विश्व डाइजेस्ट Slideshow Image Script
पाठकों की पसंद
>> यमन में हाउती विद्रोहियों ने राष्ट्रपति को बनाया बंधक
इंश्योरेंस रिफार्म में देरी पर संसद का संयुक्त सत्र बुला सकती है सरकारः जेटली
ओबामा यात्रा : आतंकी हमला हुआ तो भुगतेगा पाक
फलस्तीन में कनाडा के विदेश मंत्री पर बरसाए गए अंडे और जूते
यूएस कोर्ट ने दी पीएम मोदी को राहत,नहीं चलेगा उनके खिलाफ मुकदमा
पृथ्वी से सुरक्षित गुजर जाएगा आकाशीय पिंड
चंद्रमा पर यान भेजकर वापस लाने की दिशा में आगे बढ़ा चीन
सीरिया पहुंची पेरिस हमले में शामिल महिला आतंकी
इराक के अस्तित्व पर मंडरा रहा खतरा : केरी
हज यात्रियों के लिए सहूलियतें बढ़ाने पर सुषमा का जोर


असीम मुनीर बने पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई के नए प्रमुख
10 October 2018
रावलपिंडी। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई को नया चीफ मिल गया है। अक्सर भारत विरोधी गतिविधियों में लिप्त रहने वाली आईएसआई के नए प्रमुख के रूप में लेफ्टिनेंट जनरल असीम मुनीर ने जिम्मेदारी संभाल ली है। मुनीर एक अक्टूबर को पूर्वी डीजी नावीद मुख्तार के रिटरमेंट के बाद इस पर पर चुने गए हैं। नवीद मुख्तार को 11 दिसंबर 2016 को आइएसआइ महानिदेशक की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा की अध्यक्षता वाले बोर्ड ने छह जनरलों की प्रोन्नति को मंजूरी दे दी है। प्रोन्नति पाने वाले सैन्य अफसरों में मेजर जनरल नदीम जकी मंज, मेजर जनरल शाहीन मजहर, मेजर जनरल अब्दुल अजीज, मेजर जनरल असीम मुनीर, मेजर जनरल सैयद मोहम्मद अदनान और मेजर जनरल वसीम अशरफ शामिल हैं। पाकिस्तानी सेना में अपने कार्यकाल के दौरान मुनीर उत्तरी क्षेत्रों की कमान के कमांडर रह चुके हैं। इस साल मार्च में उन्हें पाकिस्तान के दूसरे सबसे बड़े नागरिक सम्मान 'हिलाल-ए-इम्तियाज' से नवाजा गया था। पाकिस्तान सरकार का यह सम्मान नागरिकों के साथ सैन्य अधिकारियों को भी दिया जाता है।
होंगवेई का इंटरपोल चीफ के पद से इस्तीफा, चीन बोल- ली थी रिश्वत, हो रही जांच
8 October 2018
लियोन। अंतरराष्ट्रीय पुलिस संगठन इंटरपोल के पूर्व प्रमुख मेंग होंगवेई के लापता होने के कई दिनों के बाद इंटरपोल ने एलान किया है कि उसे उसके चीनी प्रमुख मेंग होंगवेई का इस्तीफा मिला है। उन्होंने तत्काल प्रभाव से पद त्याग दिया है। उनके स्थान पर दक्षिण कोरिया के उप प्रमुख किम जोंग यांग इंटरपोल के कार्यकारी अध्यक्ष बन गए हैं। इससे कुछ ही घंटे पहले चीन ने माना कि मेंग चीन में ही उसकी जांच के दायरे में हैं। मीडिया में आ रही रिपोर्ट्स के अनुसार चीन ने होंगवेई पर घूस लेने के आरोप लगाए हैं और कहा है कि उनके खिलाफ जांच की जा रही है। जबकि उनकी पत्नी ने बताया कि मेंग ने लापता होने से ठीक पहले खतरे की तरफ इशारा करते हुए उन्हें चाकू का इमोजी (फोटो) भेजा था। बता दें कि 29 सितंबर को इंटरपोल चीफ के फ्रांस से रवाना होने के बाद से ही उनकी पत्नी उनसे संपर्क नहीं कर पा रही हैं। फ्रांस के शहर लियोन में इंटरपोल प्रमुख मेंग की पत्नी ग्रेस मेंग ने मीडिया से अपना चेहरा छिपाते हुए बताया कि यह मामला अंतरराष्ट्रीय समुदाय का है। इंटरपोल के पहले चीनी प्रमुख मेंग की जान को खतरा है। उन्होंने फ्रांस की सरकार से मेंग की सलामती के लिए इस मामले में दखल देने की अपील की। मेंग 2016 में इंटरपोल प्रेसिडेंट बनने के बाद से अपनी पत्नी और दो बच्चों के साथ लियोन में ही रह रहे थे। हांगकांग के साउथ चाइना मानिर्ग पोस्ट ने एक अनाम सूत्र का हवाला देते हुए बताया था कि 64 साल के मेंग को चीन ने पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया है। बता दें कि इंटरपोल एक शीर्ष अंतरराष्ट्रीय पुलिस एजेंसी है, जिसके 192 देश सदस्य हैं। मेंग नवंबर 2016 में इंटरपोल के प्रमुख बने थे। उसी वक्त मानवाधिकार समूहों ने यह आशंका जाहिर की थी कि चीन विदेश में असहमति के स्वरों को दबाने के लिए उन्हें परेशान कर सकता है। इंटरपोल ने विगत शनिवार को अपने प्रमुख मेंग होंगवेई को हिरासत में लिए जाने की खबरें सामने आने के बाद चीन की सरकार से स्पष्टीकरण मांगा था। इसके बाद चीन ने रविवार को कहा, "इंटरपोल के चीफ मेंग होंगवेई, जिनके लापता होने की खबर थी, कानून के उल्लंघन के चलते जांच के दायरे में हैं।" हालांकि चीन ने यह स्पष्ट नहीं किया कि उनके खिलाफ क्या मामला है। हाल के वर्षों में ऐसे तमाम मामले सामने आए हैं जब कई अधिकारी रहस्यमय ढंग से गायब हो गए और कई हफ्तों, कभी-कभी तो महीनों बाद चीनी सरकार ने एलान किया कि गायब व्यक्ति उनकी जांच के दायरे में है। चीन द्वारा ऐसे ज्यादातर मामले भ्रष्टाचार के बताए जाते हैं। हाल का एक वाकया तो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मशहूर चीन की एक अभिनेत्री का है जो पिछले कुछ महीनों से गायब हैं और सरकार ने उनके खिलाफ टैक्स चोरी के आरोपों की जांच चलने की बात कही है।
डेनिस मुकवेगे और नादिया मुराद को मिला 2018 का नोबेल शांति पुरस्कार
5 October 2018
ओस्लो। नोबेल पुरस्कारों की घोषणा का सिलसिला जारी है। कांगो के डॉ डेनिस मुकवेगे और यजीदी दुष्कर्म पीड़िता नादिया मुराद को साल 2018 के शांति के नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया है। इन दोनों लोगों ने युद्ध क्षेत्र में यौन हिंसा के खिलाफ सराहनीय कार्य किया है। डॉ मुकवेगे पेशे से महिला रोग विशेषज्ञ हैं। जबकि नादिया मुराद पूरी दुनिया में यौन हिंसा के खिलाफ लोगों को जागरूक करने का काम कर रही हैं। पहले सट्टा बाजार में इसे लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग उन का नाम सबसे आगे चल रहा था। लेकिन, अब इन अटकलों पर विराम लग चुका है। ओस्लो में घोषित किए जाने वाले शांति पुरस्कार के लिए कुल 331 लोगों और संगठनों का नाम मुकाबले में है। बता दें कि नोबेल समिति उम्मीदवारों की लिस्ट गुप्त रखती है, केवल विजेताओं के नाम की ही घोषणा की जाती है। सोशल मीडिया पर अंतरराष्ट्रीय जगत के सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार के बारे में कयास लगाए जा रहे थे। इस बार नोबेल शांति पुरस्कार के लिए 331 व्यक्तियों और संगठनों के नाम प्रस्तावित किए गए हैं। सूची का दायरा बड़ा होने के कारण ही कयासों का दौर जारी है। दरअसल, इस बार साहित्य का नोबेल पुरस्कार नहीं दिया जाना है इसलिए शांति पुरस्कार ही सबसे ज्यादा चर्चित है। ट्रंप और किम जोंग के अलावा दक्षिण कोरिया के नेता मून जेई-इन का नाम सबसे अधिक चर्चा में हैं। कोरियाई देशों के बीच पिछले एक साल से शांति की दिशा में उल्लेखनीय बातचीत हुई है। लेकिन, विशेषज्ञों का मानना है कि किम और मून को पुरस्कार देना जल्दबाजी होगी। उनका कहना है कि इन चीजों को छोड़ दें तो मानवाधिकार पर किम का रिकॉर्ड उनके समर्थन के लिए काफी नहीं है। ब्रिटेन के विदेश मंत्री रह चुके बोरिस जॉनसन और खुद मून भी कह चुके हैं कि कोरियाई द्वीप में अपनी पहल के लिए डोनाल्ड ट्रंप यह पुरस्कार जीत सकते हैं। लेकिन, ट्रंप के लिए गए फैसलों का जिक्र करते हुए डेन स्मिथ कहते हैं कि उनको पुरस्कार दिया जाना ठीक नहीं होगा। शांति की जहां तक बात है तो पेरिस जलवायु समझौते और ईरान परमाणु समझौते से बाहर होने का ट्रंप का फैसला नकारात्मक रहा है।
PAK में भारतीय उच्चायुक्त का अपमान, जिस कार्यक्रम में देना था लेक्चर, उसे किया रद
4 October 2018
नई दिल्ली। पाकिस्तान में एक बार फिर भारतीय उच्चायुक्त को अपमानजनक स्थितियों का सामना करना पड़ा है। पाकिस्तान ने उस कार्यक्रम को निरस्त कर दिया, जिसमें पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया शिरकत करने वाले थे। पाकिस्तान ने बिना किसी पूर्व सूचना के ऐन मौके पर कार्यक्रम रद कर दिया । दरअसल, भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया को सिविल सर्विस अकादमी द्वारा पाकिस्तान में आयोजित होने वाले वार्षिक कार्यक्रम में शिरकत करनी थी। लेकिन सूत्रों के मुताबिक, कार्यक्रम को अंतिम समय में रद कर दिया है। सूत्रों का कहना है कि कार्यक्रम के रद करने की पीछे कोई भी खास वजह नहीं रही है। इसके बावजूद ऐसा क्यों किया गया, यह सवाल है। बता दें कि इस कार्यक्रम में भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया के लेक्चर होने वाला था। इस कार्यक्रम को रद करने के फैसले को बीते दिनों न्यूयॉर्क में भारत-पाक विदेश मंत्रियों की बैठक रद होने से जोड़कर देखा जा रहा है। बता दें कि लाहौर सिविल अकादमी में भारतीय उच्चायुक्त का ये कार्यक्रम होना था। उन्हें पिछले महीने 5 अक्टूबर को होने वाले कार्यक्रम में शामिल होने का न्योता मिला था। गौरतलब है कि सिविल सेवा अकादमी पाकिस्तान प्रशासनिक सेवा (पीएएस) में नई भर्तियों को प्रशिक्षण देता है। इसे मूल रूप से पाकिस्तान प्रशासनिक सेवा अकादमी कहा जाता था।
केमिस्ट्री का नोबेल फ्रांसेस ऑर्नाल्ड और जार्ज पी स्मिथ व सर ग्रेगरी पी विंटर को मिला
3 October 2018
स्टॉकहोम। इस साल तीन वैज्ञानिकों को केमेस्ट्री का नोबेल पुरस्कार दिया जाएगा। इनमें आधा हिस्सा अमेरिका के एच अरनॉल्ड को और शेष आधे हिस्से को संयुक्त रूप से जॉर्ज पी स्मिथ व सर ग्रेगरॉय पी विंटर को दिया गया है।इसके तहत 10.1 लाख अमेरिकी डॉलर की पुरस्कार की राशि ज्यादा से ज्यादा तीन वैज्ञानिकों में साझा की जा सकती है। रॉयल स्वीडिश अकेडमी ऑफ साइंसेज ने इन पुरस्कारों की घोषणा की है। इससे पहले फिजिक्स के लिए आर्थर अशकिन और गेर्राड मौरोउ और दोन्ना स्ट्रिकलैंड के नाम की घोषणा की गई थी। इस पुरस्कार में आधा भाग आर्थर अशकिन जबकि आधे भाग में से गेर्राड मौरोउ और दोन्ना स्ट्रिकलैंड को सम्मानित किया गया है। बताते चलें कि महान वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल की याद में नोबेल पुरस्कार शुरू किए गए थे। हर साल 'रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेस', 'द स्वीडिश एकेडमी', 'द कारोलिंस्का इंस्टीट्यूट' और 'द नॉर्वेजियन नोबेल कमिटी' द्वारा उन लोगों और संस्थाओं को दी जाती है, जिन्होंने अर्थशास्त्र, भौतिकशास्त्र, रसायनशास्त्र, चिकित्साशास्त्र, साहित्य और शांति के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान दिया है। इसके तहत हर विजेता को एक मेडल, एक डिप्लोमा, एक मोनेटरी अवॉर्ड दिया जाता है। हालांकि, इस बार साहित्य का नोबेल पुरस्कार नहीं दिए जाने का फैसला किया गया है। पिछले 70 साल में पहली बार ऐसा है कि साहित्य का नोबेल पुरस्कार नहीं दिया जाएगा। 1901 से लेकर अब तक 892 व्यक्तियों को नोबेल पुरस्कार मिला है। हालांकि, इनमें से महज 48 महिलाओं को ही यह प्रतिष्ठित पुरस्कार मिला है। इनमें से 30 महिलाओं को साहित्य या शांति के लिए नोबेल पुरस्कार मिला है।
गणतंत्र दिवस पर भारत आ सकते हैं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप
29 September 2018
न्यूयॉर्क। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की नजरें भारत दौरे पर हैं। वह इस दौरे को लेकर काफी उत्सुक हैं। दोनों देशों के बेहतर संबंधों को दर्शाने के लिए राष्ट्रपति ट्रंप भारत का दौरा कर सकते हैं। एक उच्च प्रशासनिक अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति ट्रंप को गणतंत्र दिवस में बतौर मुख्य अतिथि आमंत्रित किया है। ब्यूरो ऑफ साउथ एंड सेंट्रल एशिया अलाइस वेल्स ने ट्रंप के भारत दौरे की तारीखों के बारे में पूछे जाने पर कहा कि इस बारे में अभी कोई जानकारी नहीं है। ट्रंप ने 2014 में एक कारोबारी के तौर पर भारत की यात्रा की थी। सोमवार को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी राष्ट्रपति ट्रंप से एक कार्यक्रम के दौरान मुलाकात की थी। स्वराज के साथ मुलाकात में ट्रंप ने कहा कि मैं भारत को प्यार करता हूं। मेरे मित्र पीएम मोदी को मेरा अभिवादन दीजिएगा। पिछले साल ट्रंप और मोदी दो बार मिले थे। पहले मोदी की वाशिंगटन यात्रा के दौरान और बाद में मनीला में एक सम्मेलन से इतर दोनों नेताओं की मुलाकात हुई थी।
कनाडा ने म्यांमार की नेता सू की से वापस ली मानद नागरिकता
28 September 2018
ओटावा। रोहिंग्या संकट के चलते कनाडा ने म्यांमार की नेता आंग सान सू की को दी गई मानद नागरिकता वापस ले ली है। इससे संबंधित एक प्रस्ताव गुरुवार को कनाडा की संसद ने सर्वसम्मिति से पारित कर दिया। नोबेल पुरस्कार विजेता सू की को 2007 में कनाडा की मानद नागरिकता दी गई थी। म्यांमार में पिछले साल अगस्त में रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ हुई हिंसा पर चुप्पी साधने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सू की की छवि काफी खराब हुई है। पिछले हफ्ते कनाडा ने इस घटना को नरसंहार करार दिया था। इसके बाद ही उनकी नागरिकता वापस लेने का फैसला किया गया। दलाई लामा, नेल्सन मंडेला और नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई को भी कनाडा ने मानद नागरिकता दे रखी है। पहले भी छीनी जा चुकी हैं कई उपाधियां रोहिंग्या संकट को लेकर अमेरिका के होलोकास्ट संग्रहालय ने सू की को दिया एली वीजल पुरस्कार वापस ले लिया था। ब्रिटेन के ग्लासगो, ऑक्सफोर्ड, न्यूकैसल और इडेनबर्ग शहरों ने म्यांमार नेता को दी मानद उपाधियां वापस ले ली हैं। कनाडा के मानवाधिकार म्यूजियम में लगे सू की के चित्र पर अंधेरा कर दिया गया है।
आंख के नीचे फंसा था चाकू, एक्स-रे देखकर हैरान हो गए डॉक्टर
25 September 2018
रियो डी जेनेरियो। कई बार लोग मामूली हमले में ही जान गंवा देते हैं, तो कई बार गंभीर हादसे का शिकार होकर भी रहस्यमयी तरीके से जीवित बच जाते हैं। बीते वर्षों में ऐसे भी कई मामले सामने आए हैं, जब नुकीली और तेज धार हथियार से घायल होने के बाद लोग अस्पताल पहुंचे, तो उन्हें पता चला कि उनके शरीर का अहम अंग था ही नहीं। इसी तरह एक नया मामला इंटरनेट की सुर्खियां बटोर रहा है। दरअसल, दक्षिण अफ्रीका के रहने वाले 25 वर्षीय किशोर की अपने दोस्त के साथ शराब पीने के दौरान लड़ाई हो गई थी। दोस्त ने उसे चाकू मार दिया। चाकू उसकी बाईं आंख के नीचे घुस गया और उसका हत्था टूट गया था। चाकू चेहरे की हड्डी में जाकर फंस गया था, लिहाजा वह नहीं निकल सका। युवक को पता ही नहीं था कि चाकू अभी भी उसकी आंख के नीचे घुसा हुआ है। डॉक्टरों को दिखाने के बाद उसने कहा कि उसके सिर में दर्द हो रहा है और उसकी बाईं आंख नहीं हिल रही है। लिहाजा चोट की प्रकृति को देखते हुए कान, नाक और गला विशेषज्ञों को बुलाया गया। उन्होंने हमले के दो दिन युवक का एक्स-रे कराया, तो उनके होश उड़ गए। डॉक्टरों ने पाया कि चाकू अभी भी युवक के चेहरे में फंसा था। उन्होंने सर्जरी कर युवक के चेहरे से चाकू निकाला। इस दौरान कोई भी ब्लड वेसल क्षतिग्रस्त नहीं हुई। दो दिनों के बाद युवक को घर जाने की इजाजत दे दी गई। युवक का कहना है कि वह भाग्यशाली है कि इतना कुछ होने के बाद भी कोई गंभीर नुकसान नहीं हुआ और वह जिंदा बच गया।
संदिग्ध आतंकियों ने बर्किना फासो में भारतीय समेत तीन अगवा
24 September 2018
उगाडुगू। पश्चिम अफ्रीकी देश बर्किना फासो में संदिग्ध आतंकियों ने एक भारतीय और एक दक्षिणी अफ्रीकी समेत तीन लोगों का अपहरण कर लिया है। तीनों ही देश के उत्तरी इलाके में एक सोने की खदान में काम करते हैं। एक अन्य खदान कर्मी ने इस घटना की जानकारी दी। उसके अनुसार, तीनों सुबह आठ बजे खदान के पास से गए थे। दो घंटे बाद भी उनमें से कोई वापस नहीं लौटा। बताया जा रहा है कि इनाटा स्थित सोने की खदान और डजीबो शहर के बीच कुछ अज्ञात हथियारबंद लोगों ने उन्हें अगवा कर लिया। डजीबो शहर माली और नाइजर से लगा हुआ है। अपहरणकर्ता तीनों को लेकर माली की सीमा पार कर गए। आशंका जताई गई है कि अपहरणकर्ता इस क्षेत्र में सक्रिय आतंकी समूह के सदस्य हैं। बर्किना फासो में इससे पहले भी विदेशी कामगारों को अगवा किए जाने की घटनाएं हो चुकी हैं। जनवरी, 2016 में बुजुर्ग ऑस्ट्रेलियाई दंपती को अगवा किया गया था। 2015 में अलकायदा समर्थित संगठन ने रोमानिया के एक नागरिक का अपहरण किया था जो अब भी आतंकी संगठन की कैद में है।
अमेरिका में भीषण बस हादसा, 4 की मौत और कई घायल
31 August 2018
वॉशिंगटन। अमेरिका के न्यू मेक्सिको प्रांत में एक बस दुर्घटना में सात लोगों की मौत हो गई है। न्यू मेक्सिको की पुलिस ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि हादसे में कई यात्रियों को चोटें भी आई हैं। घायलों में कुछ की हालत गंभीर बताई जा रही है। पुलिस के मुताबिक, प्रारंभिक जानकारी से संकेत मिले हैं कि आइ-40 ईस्टबाउंड पर एक सेमी-ट्रैक्टर-ट्रेलर बस की भिड़ंत यात्री बस से हो गई। बस दुर्घटना के चलते न्यू मेक्सिको के सबसे बड़े शहर अलबुकर्क से 170 किलोमीटर दूर उत्तर-पश्चिम में थोरो के पास वेस्टबाउंड आई-40 लेन को बंद करना पड़ा है। पुलिस ने बताया कि सेमी-ट्रैक्टर-ट्रेलर का एक टायर निकल गया था जिस कारण वह डिवाइडर को तोड़ते हुए ट्रैफिक के बीच जा पहुंचा और सामने से आ रही इंटरस्टेट बस से जा भिड़ा। गॉलअप इंडियन मेडिकल सेंटर ने बताया कि यह लगभग 37 मरीजों का इलाज कर रहा है, जिनमें से चार से छह लोगों को ट्रामा सेंटर में रेफर किया गया है। वहीं, अल्बुकर्क में न्यू मेक्सिको अस्पताल ने कहा कि उसके यहां आठ मरीजों को भर्ती कराया, जिसमें तीन की हालत गंभीर है। बता दें कि जिस बस का एक्सीडेंट हुआ है, वो अलबुकर्क से फीनिक्स जा रही थी। जिसमें करीब 47 यात्री सवार थे
Google से नाराज हुए ट्रंप, गलत छवि बनाने पर कर सकते हैं कार्रवाई
29 August 2018
वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति अक्सर अपने ट्वीट और बयानों को लेकर चर्चा में रहते हैं लेकिन इस बार मामला कुछ अलग है। राष्ट्रपति ट्रंप इस बार गूगल से अपनी नाराजगी के कारण चर्चा में हैं। खबर है कि वो कंपनी के खिलाफ कार्रवाई भी कर सकते हैं और इसका कारण उनकी गलत छवि बनाने का आरोप है। उन्होंने इस मामले में गूगल को आड़े हाथों भी लिया है और कहा कि जब से राष्ट्रपति पद संभाला है मीडिया मेरे खिलाफ हमेशा खबरें चलाता रहता है। ट्रंप ने आरोप लगाया कि गूगल भी मेरे खिलाफ नकारात्मक खबरें सर्च होने में बड़ी भूमिका निभा रहा है। अमेरिकी वेबसाइट यूएसए टुडे के मुताबिक अगर गूगल पर इडियट ढूंढते हैं तो सबसे पहले डोनाल्ड ट्रंप की तस्वीर सामने आती है। इसके चलते पहले से ही काफी बवाल हो चुका है। अपने टि्वटर पोस्ट में मंगलवार को ट्रंप ने लिखा, ट्रंप लिखने पर गूगल सर्च रिजल्ट में सिर्फ मेरे खिलाफ नकारात्मक खबरें दिखती हैं। यह फेक न्यू मीडिया है। दूसरे शब्दों में कंपनी मेरे और अन्य लोगों के खिलाफ हेराफेरी कर रही है, जिसमें अधिकांश खबरें नकारात्मक हैं। इनमें नकली सीएनएन सबसे अहम है। रिपब्लिकन/ कंजरवेटिव और निष्पक्ष मीडिया सब खत्म हो चुके हैं। ये सब अवैध हैं? एक अन्य ट्वीट में ट्रंप आगे कहते हैं, 96 प्रतिशत से भी अधिक ट्रंप न्यूज के सर्च रिजल्ट राष्ट्रीय वामपंथी मीडिया की तरफ से हैं, जो काफी खतरनाक हैं। गूगल और अन्य कंपनियां कंजरवेटिव की आवाज दबा रहे हैं और सूचनाओं और खबरों को छिपा रहे हैं।
PoK में आम लोगों पर पुलिस ने की बर्बरता, लाठीचार्ज में कई घायल
28 August 2018
कोटली। पाकिस्तान एक तरफ तो कश्मीर के लोगों पर अत्याचार का आरोप लगाता है और दूसरी तरफ अपने कब्जे वाले कश्मीर में लोगों पर बर्बरता करता है। ताजा मामला पाक अधिकृत कश्मीर का ही है जहां पुलिस ने बेरहमी से लोगों पर अत्याचार किया है। पीओके के कोटली में एक शांतिपूर्ण रूप से किए जा रहे प्रदर्शन पर पुलिस ने बर्बरता दिखाते हुए जमकर लाठीचार्ज किया। इस लाठीचार्ज में कई लोग घायल हो गए। ये प्रदर्शनकारी अपने उन अधिकारों की मांग कर रहे थे, जो पाकिस्‍तान के अन्‍य क्षेत्रों में रहनेवाले को प्राप्‍त हैं। पिछले सात दशकों ने पीओके में रहने वाले लोग, कई बंदिशें झेल रहे हैं। बड़े पैमाने पर प्रदर्शन करने जुटे प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने आंसू गैस के गोले भी दागे, जिससे लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। इस पूरे घटनाक्रम के बाद जो तस्‍वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुईं, उससे पता चलता है कि कानून के रखवाले शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों पर कितनी बर्बरता के साथ पेश आए। इससे पता चलता है कि कश्मीरी लोगों पर क्रूरता करने के लिए इस्लामाबाद द्वारा सुरक्षा बलों को खुली छूट दी गई है। हालांकि यह पीओके के लोगों पर पाकिस्तान सरकार की क्रूरता का एकमात्र उदाहरण नहीं है। जब-जब कभी इस क्षेत्र में असंतोष को लेकर आवाज बुलंद होती है, तब-तब स्‍थानीय प्रशासन लोगों की आवाज को दबाने के लिए शक्ति का प्रयोग करता है। लेकिन लोगों में धीरे-धीरे अंसतोष बढ़ता जा रहा है, जो जल्‍द ही बड़े आंदोलन का रूप ले सकता है। हालांकि पाकिस्‍तानी सरकार का मानना है कि पीओके के लोगों को भी समान अधिकार प्राप्‍त हैं।
इमरान खान और अमेरिकी विदेश मंत्री की बातचीत के ब्यौरे पर विवाद, पाकिस्तान या अमेरिका आखिर कौन बोल रहा है झूठ
25 August 2018
नई दिल्ली: पाकिस्तान के नये प्रधानमंत्री इमरान खान और अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के बीच हुई फोन पर बातचीत का ब्यौरा जारी होने के बाद से पाकिस्तान में विवाद शुरू हो गया है और पाकिस्तान सरकार की ओर से अमेरिका से इस पर सुधार करने के लिये कहा गया है. इससे पहले जानकारी आई थी कि माइक पोम्पियो ने इमरान खान से बात की और देश में संचालित हो रहे सभी आतंकवादियों के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई की मांग की. लेकिन अब पाकिस्तान की ओर से कहा जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच हुई बातचीत में आतंकवाद पर कोई चर्चा ही नहीं हुई है. अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हीथर नाउर्ट की ओर से जारी बयान में आतंकवाद पर निर्णायक कार्रवाई की बात का जिक्र किया गया है. वहीं पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय की ओर से कहा जा रहा है कि माइक पोम्पियो ने इमरान खान को बधाई दी और कई मुद्दों पर चर्चा की लेकिन आतंकवाद का कहीं कोई जिक्र नहीं किया गया है. पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कहा, 'प्रधानमंत्री इमरान खान और अमेरिकी विदेश मंत्री के बीच हुई बातचीत का जो ब्यौरा अमेरिका की ओर से जारी किया गया है इसे पाकिस्तान गलत तथ्यों पर आधारित बयान मानता है. इसको तुरंत सुधारा जाना चाहिये' मोहम्मद फैसल ने ट्विटर पर लिखा, 'पूरी बातचीत में पाकिस्तान से संचालित आतंकवाद का कहीं कोई जिक्र नही है. आपको बता दें कि पाकिस्तान में यह विवाद उस समय शुरू हुआ है जब कयास लगाये जा रहे हैं कि अमेरिकी विदेश मंत्री सितंबर के पहले हफ्ते में पाकिस्तान आएंगे और प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ द्विपक्षीय बातचीत करेंगे. गौरतलब है कि इससे पहले खबर आई थी कि अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से बात की और देश में संचालित हो रहे सभी आतंकवादियों के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई की मांग की है. विदेश विभाग की प्रवक्ता हीथर नाउर्ट ने एक बयान में कहा कि खान के साथ अपनी बातचीत में पोम्पियो ने युद्ध प्रभावित अफगानिस्तान में पाकिस्तान की अहम भूमिका के बारे में भी चर्चा की. उन्होंने बताया कि पोम्पियो ने पाकिस्तान की सरजमीं पर संचालित हो रहे सभी आतंकवादियों के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई का मुद्दा उठाया और अफगान शांति प्रक्रिया को बढ़ावा देने में उसकी अहम भूमिका पर चर्चा की. डॉन अखबार की खबर के मुताबिक पोम्पियो के पांच सितंबर को इस्लामाबाद की यात्रा करने की उम्मीद है. अफगान तालिबान और अन्य आतंकी संगठनों को पाकिस्तान द्वारा प्रत्यक्ष या परोक्ष समर्थन दिए जाने से अमेरिका लंबे समय से परेशान रहा है जिसके चलते ट्रंप प्रशासन को इस्लामाबाद को चेतावनी देनी पड़ी और इस देश को वित्तीय सैन्य सहायता में कटौती करनी पड़ी.
इंडोनेशिया में आए भूकंप के बाद अब तक 555 की मौत, 1500 अब भी घायल
24 August 2018
जकार्ता। इंडोनेशिया के लोमबोक आइलैंड पर इस महीने आए भीषण भूकंप के कारण अब तक मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इंडोनेशिया के आपदा प्रबंधन एजेंसी ने शुक्रवार को दी जानकारी में बताया कि इस घातक भूकंप के झटकों के कारण लोमबोक द्वीप में मरने वालों की संख्‍या 555 तक पहुंच गई है और करीब 1,500 लोग घायल हैं। इसके अलावा सैंकड़ों लोग बेघर हो गए हैं। आपदा प्रबंधन एजेंसी ने बताया कि पिछले सप्ताह शुक्रवार को लोमबोक के उत्तरी हिस्से में ज्यादा लोगों की मौतें हुई। इसके अलावा पड़ोस में स्थित सुमबावा द्वीप में भी कई लोगों की मौत हो गई। कई पीड़ितों की मौत मलबे के नीचे दबने से हो गई क्योंकि भूकंप की वजह से बड़ी संख्या में घर और प्रतिष्ठान क्षतिग्रस्त हुए हैं। इंडोनेशिया में जनजीवन चरमरा गया है। सड़के टूट गई हैं और मलबे से भरे हुए हैं। सहयोगी संस्‍थानों की ओर से भूकंप प्रभावित क्षेत्र में मदद की जा रही है। बेघरों को राहत शिविरों में ले जाया गया है। आपदा प्रबंधन एजेंसी ने बताया, ‘हमने सुदूर गांवों में सैनिकों की तैनाती कर दी है। इन गांवों में मोटरबाइक का पहुंचना काफी कठिन है। लोमबोक द्वीप के इलाके में 5 अगस्त को 6.9 तीव्रता का भूकंप आया था और इसके बाद करीब 500 से ज्यादा भूकंप के ऑफ्टर शॉक आए थे। इसमें 9 अगस्त को 5.9 तीव्रता का एक झटका भी शामिल है। बता दें कि इंडोनेशिया में भूकंप का खतरा बना रहता है क्योंकि यह देश 'रिंग ऑ फायर' यानी लगातार भूकंप और ज्वालामुखीय विस्फोटों की रेखा पर स्थित है। यह रेखा प्रशांत महासागर के लगभग पूरे हिस्से को घेरती है। दुनिया के आधे से ज़्यादा सक्रिय ज्वालामुखी इसी रिंग ऑफ फायर का हिस्सा हैं। 2004 में इंडोनेशिया के सुमात्रा तट पर 9.4 रिक्टर स्केल वाले भूकंप के कारण आई सूनामी के कारण भारत सहित विभिन्न देशों में 2,20,000 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि अकेले इंडोनेशिया में 1,68,000 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी।
पाक में ऐसा स्कूल, मंदिर में आकर टीचर कहती है सलाम तो बच्चे जय श्री राम
23 August 2018
कराची। भारत में अक्सर हिंदू-मुस्लिम एकता और प्रेम की कहानियां सामने आती रहती हैं लेकिन इस बार पाकिस्तान से ऐसी खबर आ रही है। कहते हैं गुरू और शिष्य के रिश्ते में ना धर्म बाधा बनता है और ना ही कोई और चीज। पाकिस्तान के कराची में एक ऐसा ही स्कूल है जहां शिक्षक तो एक मुस्लिम है लेकिन उनसे पढ़ने वाले हिंदू बच्चे। इतना ही नहीं इन बच्चों की क्लास एक मंदिर में लगती है। खबरों के अनुसार कराची स्‍थित एक हिंदू मंदिर में पारंपरिक मुस्‍लिम हिजाब पहने शिक्षिका अनम आगा प्रतिदिन पिछड़े वर्ग के हिंदू बच्‍चों को पढ़ातीं हैं। हर दिन इस स्‍कूल की शुरुआत टीचर के सलाम के जवाब में जय श्री राम के साथ होती है। इस जवाब से गुरेज न करते हुए अनम बस्‍ती गुरु एरिया में स्‍थित मंदिर के भीतर स्‍कूल चलातीं हैं। इस बस्‍ती में 80-90 हिंदू परिवार रहते हैं। अनम ने बताया कि मंदिर के भीतर मेरे द्वारा स्‍कूल चलाए जाने की बात सुन सभी अचरज करते हैं। लेकिन पिछले साल जब यह स्‍कूल शुरू किया था तब हमारे पास इसके लिए दूसरी कोई जगह नहीं थी। मंदिर के मुख्‍य एरिया में स्‍कूल चलाया जाता है। मंदिर की दीवारों पर हिंदू भगवानों की तस्‍वीरों के साथ प्‍लास्‍टर किया हुआ है। अनम ने स्‍वीकार किया कि आसपास रहने वाले मुस्‍लिम समुदाय को उनका यह काम पसंद नहीं है। ‘लेकिन मैं यह काम करती हूं क्‍योंकि इन्‍हें अपने मौलिक अधिकारों का भी पता नहीं है। उनके बच्‍चे शिक्षा अर्जित करना चाहते हैं। इनमें से कुछ बच्‍चे क्षेत्र के दूसरे स्‍कूल में जाते हैं लेकिन उन्‍हें सामाजिक और धार्मिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।’ अनम ने आगे बताया कि इन बच्‍चों विशेषकर लड़कियों के माता पिता खुश हैं कि उन्‍हें बस्‍ती से दूर नहीं जाना पड़ता है।’ अनम ने कहा कि मुस्‍लिम शिक्षिका होने की वजह से उन्‍हें चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। ‘लेकिन मैं कभी भी धर्म के बारे में बात नहीं करती और उनकी भावनाओं को चोट पहुंचाने से बचती हूं। मैं उन्‍हें धर्म से अलग विभिन्‍न विषयों के बारे में बताती हूं।’ मैं उनकी इज्‍जत करती हूं जिसके जवाब में वे भी मुझे इज्‍जत देते हैं। हम एक साथ त्‍योहार मनाते हैं। मैं उन्‍हें सलाम करती हूं और वे जवाब में जय श्री राम कहते हैं।’ अनम का मानना है कि यह स्‍कूल इस बात का उदाहरण स्‍थापित करेगा कि मुस्‍लिम बहुल राष्‍ट्र में एक दूसरे का सम्‍मान कर किस तरह विभिन्‍न समुदाय एक साथ शांति से रह सकते हैं।
अस्पताल की 16 नर्सें एकसाथ हुईं गर्भवती, जानिए फिर क्या हुआ
21 August 2018
एरिजोना। किसी अस्पताल में काम करने वाली महिला नर्स गर्भवती हो तो कोई बड़ी बात नहीं है। लेकिन एक ही अस्पताल के एक ही आईसीयू में एक साथ 16 नर्सें गर्भवती हो जाएं तो यह किसी को भी आश्चर्य में डाल सकता है। मामला अमेरिका में एरिजोना के मेसा में बैनर डेजर्ट मेडिकल सेंटर का है। अस्पताल के आईसीयू में काम करने वाली 16 नर्सों के एकसाथ गर्भवती होने का मामला सामने आया है। नर्सों को एक-दूसरे के गर्भवती होने की जानकारी तब मिली, जब वे अस्पताल की गर्भवती महिलाओं के एक फेसबुक ग्रुप में शामिल हुईं। ये सभी नर्स अक्टूबर से जनवरी के बीच अपने बच्चों को जन्म देंगी। एक साथ गर्भवती होने की घटना को लेकर इन नर्सों में से एक एश्ले ने कहा कि यहां के पानी में ऐसा क्या है? वहीं एक अन्य नर्स ने कहा कि सभी को एक दूसरे के गर्भवती होने की जानकारी फेसबुक ग्रुप के माध्यम से लगी। जहां एक तरफ सभी नर्सें मेटरनिटी लीव पर जाने की तैयारी में हैं वहीं अस्पताल के सामने स्टाफ की समस्या पैदा हो गई है लेकिन प्रबंधन का कहना है कि वो लंबे समय से इसकी प्लानिंग कर रहे हैं।
अफगानिस्तान में तालिबान का हमला, 100 से ज्यादा लोगों को बनाया बंधक
20 August 2018
काबुल। अफगानिस्तान में तालिबान के खिलाफ अस्थायी संघर्षविराम के ऐलान के 24 घंटे बाद 100 से ज्यादा लोगों को तालिबानी आतंकियों ने बंधक बना लिया है। इनमें महिलाएं व बच्चे भी शामिल हैं। अफगान सरकार के अधिकारियों ने बताया कि तालिबान ने सोमवार को उत्तरी अफगानिस्तान में एक सड़क से गुजर रही बसों के काफिले पर घात लगाकर हमला किया और विद्रोहियों द्वारा हालिया हमले में महिलाओं और बच्चों सहित 100 से अधिक लोगों को बंधक बना लिया गया है। ईद-उल अजहा से कुछ दिनों पहले राष्ट्रपति अशरफ गनी की ओर से आतंकी संगठन से सीजफायर की अपील किए जाने के बावजूद यह घटना हुई है। कुंदूज प्रांत के मुखिया मोहम्मद युसूफ अयूबी ने कहा कि सोमवार को आतंकियों ने सड़क से गुजर रही तीन बसों को रोका और सभी लोगों को बंधक बना लिया। यह घटना खान आबाद जिले में हुई। दरअसल, यहां आतंकी झाड़ियों के बीच छिपे घात लगाए हुए बैठे थे और मौका देखकर उन्होंने बसों पर धावा बोल दिया। अयूबी का मानना है कि तालिबानी आतंकी सरकारी कर्मचारियों या फिर सुरक्षाकर्मियों को निशाना बनाने की फिराक में थे। पड़ोसी प्रांत ताखार के पुलिस चीफ अब्दुल रहमान अकताश ने बताया कि सभी यात्री बदखशान और ताखर प्रांतों के थे। ये सभी काबुल जा रहे थे। इस बीच अयूबी ने कहा कि किसी भी यात्री की अबतक कोई खबर नहीं मिली है, लेकिन स्थानीय अधिकारी तालिबान के साथ बातचीत करने की कोशिश कर रहे हैं। बता दें कि यह घटना जिस इलाके में हुई है, उस पर तालिबान का ही नियंत्रण है। बता दें कि रविवार को ही अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने तालिबान के साथ हालिया संघर्ष के बाद तीन महीने के अस्थायी संघर्षविराम का ऐलान किया था। साथ ही, उन्होंने चेताया भी था कि यह एकतरफा नहीं है। हालांकि तलिबान की इस हरकत के बाद ऐसा मामूम पड़ता है कि अस्थायी संघर्षविराम तीन महीने तक जारी रहना मुश्किल है। बता दें कि रविवार को अस्थायी संघर्षविराम की घोषणा करते हुए राष्ट्रपति अशरफ गनी ने कहा कि तालिबान इसका पालन करेगा तो ही संघर्षविराम अमल में लाया जाएगा। टीवी पर संबोधन के दौरान गनी ने कहा था, 'मैं एक बार फिर पैगंबर के जन्मदिन तक संघर्ष विराम का ऐलान करता हूं, बशर्ते इसका पालन तालिबान को भी करना होगा।' गौरतलब है कि अफगानिस्तान में 21 नवंबर को ईद मिलादुन्नबी मनाई जाएगी। गनी ने कहा कि उलेमा, राजनीतिक पार्टियों और नागरिक समाज समूहों के साथ सलाह-मशविरे के बाद यह फैसला (अस्थायी संघर्षविराम) अमल में लाया गया, ताकि अमन के रास्ते में आ रही सभी रूकावटों को दूर किया जा सके। हालांकि अस्थायी संघर्ष विराम पर तालिबान की ओर से कोई जवाब तो नहीं आया, बल्कि 100 से ज्यादा लोगों को बंधक बनाने की खबर सामने आ गई।
इमरान के शपथ में पाक आर्मी चीफ से गले मिले सिद्धू, PoK के राष्ट्रपति के साथ बैठे आये नजर, बढ़ा विवाद
18 August 2018
नई दिल्ली: इमरान खान ने पाकिस्तान के नये प्रधानमंत्री के रूप में पद और गोपनीयता की शपथ ली. इस मौके पर पूर्व भारतीय क्रिकेटर और राजनेता नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर विवाद बढ़ता दिख रहा है. क्रिकेटर से नेता बने पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के नेता इमरान खान के शपथ समारोह में पाकिस्तान पहुंचे कांग्रेस नेता एवं पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू को जिस जगह पर बैठाया गया, उस पर विवाद हो गया है. दरअसल, इमरान खान के शपथ ग्रहण की जो तस्वीरें मीडिया में सामने आई हैं, उसमें नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) के चीफ मसूद खान के बगल वाली सीट पर बैठे नजर आ रहे हैं. समाचार एजेंसी एएनआई ने जो तस्वीर जारी किया है, उसमें दिख रहा है कि इमरान खान के शपथग्रहण समारोह में नवजोत सिंह सिद्धू को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के राष्ट्रपति मसूद खान के बगल में बैठाया गया है. अब इसे लेकर विवाद हो रहा है कि आखिर पाकिस्तान सरकार ने नवजोत सिंह सिद्धू को मसूद खान के साथ वाली सीट पर बैठाया, या खुद नवजोत सिंह सिद्धू बैठ गये. हालांकि, अभी तक इस पर किसी तरह की आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं आई है सिद्धू को पीओके के प्रमुख मसूद खान के साथ बैठाए जाने को लेकर विवाद इसलिए भी बढ़ना तय है क्योंकि पीओके शुरू से ही भारत और पाकिस्तान के बीच तकरार की वजह रही है. पाकिस्तान शुरू से ही पीओके पर अपना दावा करता रहा है. कश्मीर को लेकर भारत पाकिस्तान के बीच काफी समय से तनाव का माहौल है. यही वजह है कि सिद्धू की सीट को लेकर विवाद बढ़ना तय माना जा रहा है . इससे पहले जब सिद्धू इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे, तो उनकी मुलाकात पाकिस्तान के आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा से हुई. उस वक्त सिद्धू और बाजवा दोनों एक दूसरे से गले मिले. दोनों एक दूसरे से हाथ मिलाया और कुछ देर तक दोनों के बीच बातें भी हुई सिद्धू को पीओके के प्रमुख मसूद खान के साथ बैठाए जाने पर जम्मू-कश्मीर कांग्रेस के चीफ गुलाम अहमद मीर ने कहा कि सिद्धू जिम्मेदार इंसान और मंत्री हैं. इस पर सिर्फ वही जवाब दे सकते हैं. मगर हां, उन्हें इससे बचना चाहिए था. बता दें कि आज इमरान खान ने पाकिस्तान के 22वें प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली. सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा, पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू, क्रिकेटर से कमांटेटर बने रमीज राजा, पूर्व तेज गेंदबाज वसीम अकरम सहित अन्य कई विशिष्ट अतिथि समारोह में उपस्थित थे.ऑक्सफोर्ड में पढ़ाई करने वाले पश्तून खान ने कल अपने एकमात्र प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के प्रमुख शाहबाज शरीफ को नेशनल एसेम्बली में हुए एकतरफा चुनाव में हरा कर प्रधानमंत्री पद के लिए जीत हासिल की.
अफगानिस्तान में शियाओं के शिक्षण संस्थान पर आतंकी हमला, 48 मरे
16 August 2018
काबुल। अफगानिस्तान में अल्पसंख्यक शिया समुदाय के शिक्षण संस्थान पर बुधवार को आतंकी हमले में 48 की मौत हो गई और 67 अन्य घायल हो गए। मरने वालों में ज्यादातर किशोर छात्र-छात्राएं शामिल हैं। इससे आतंकियों ने देश के उत्तरी हिस्से में स्थित सेना की दो चौकियों पर हमला कर 9 पुलिसकर्मियों और 35 सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया। राजधानी काबुल के पश्चिम में स्थित शिया अल्पसंख्यक समुदाय के शिक्षण संस्थान के विद्यार्थी अहाते में एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को उड़ा लिया। यहां छात्र टेंट लगाकर विश्वविद्यालय की प्रवेश परीक्षा की पढ़ाई कर रहे थे। एक प्रत्यक्षदर्शी सैयद अली ने बताया कि मरने वाले अधिकांश छात्रों के चीथड़े उड़ गए। सिटी हास्पिटल के डॉक्टरों ने बताया कि कई पीड़ित बुरी तरह जल गए हैं। अस्पताल में मौजूद एक अन्य प्रत्यक्षदर्शी अब्दुल खालिक ने बताया कि उनका भाई भी वहां पढ़ता था। विस्फोट में उसकी भी मौत हो गई है। हालांकि अभी तक विस्फोट की जिम्मेदारी तो किसी समूह ने नहीं ली है, लेकिन शिया समुदाय पर किए जा रहे हमलों के इतिहास को देखते हुए लगता है कि इसे इस्लामिक स्टेट (आइएस) ने अंजाम दिया है। तालिबान ने धमाके से इन्कार किया है। इससे पहले बुधवार को ही उत्तरी अफगानिस्तान के बाघलान प्रांत स्थित सैन्य बेस पर किए गए हमले में 9 पुलिसकर्मियों और 35 सैनिकों की मौत हो गई है। बाघलान से सांसद दिलावर अयमाक ने हमले की पुष्टि करते हुए कहा कि एक सैन्य और एक पुलिस चौकी को निशाना बनाया गया था। तालिबान ने हमले की जिम्मेदारी ली है। अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र वरिष्ठ अधिकारी ताडामिची यामामोटा ने लड़ाई बंद करने की अपील की है।
अमेरिका में भारतीय सहित 100 से अधिक लोग हिरासत में
14 August 2018
न्यूयॉर्क: अमेरिकी सीमा गश्त और आव्रजन अधिकारियों ने अवैध रूप से देश में प्रवेश करने और रहने वालों के खिलाफ अलग अलग कार्रवाई करते हुए 100 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया है, जिसमें कुछ भारतीय भी शामिल हैं. अमेरिकी आव्रजन एवं सीमा शुल्क प्रवर्तन (आईसीई) के प्रवर्तन एवं निष्कासन अभियान (ईआरओ) के संघीय अधिकारियों ने पांच दिन की कार्रवाई के दौरान अमेरिकी आव्रजन कानूनों का उल्लंघन करने पर ह्यूस्टन इलाके में 45 लोगों को गिरफ्तार किया है. एजेंसी ने अभियान के दौरान गिरफ्तार किये गये भारतीय नागरिकों की कुल संख्या का ब्योरा नहीं दिया है. आईसीई ने एक बयान में बताया कि इस अभियान में होंडुरास, एल साल्वाडोर, मेक्सिको, ग्वाटेमाला, अर्जेंटीना, क्यूबा, नाइजीरिया, भारत, चिली और तुर्की के नागरिकों को पकड़ा गया है. एजेंसी ने बताया कि अभियान के दौरान गिरफ्तार किये गये कुछ लोगों के खिलाफ अवैध रूप से प्रवेश और निर्वासन के बाद दोबारा अवैध तरीके से प्रवेश के लिए संघीय आपराधिक मुकदमा चलाया जाएगा.
उत्तर और दक्षिण कोरिया अगले माह शिखर बैठक के लिए तैयार
13 August 2018
सियोल। उत्तर और दक्षिण कोरिया आपसी संबंध सुधारने के लिए सितंबर में दोनों देशों के नेताओं के बीच शिखर बैठक के लिए तैयार हो गए हैं। सोमवार को दोनों देशों के अधिकारियों की बैठक में यह फैसला लिया गया। उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयांग में यह बैठक होगी। उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन इस साल तीसरी बार मिलेंगे। बैठक के लिए हालांकि तारीख की घोषणा नहीं की गई है। पहली बार अप्रैल में दोनों नेताओं के बीच पनमुंजोम में बैठक हुई थी। इसके एक महीने बाद मई में यहीं पर दोनों नेता फिर मिले थे। अगले महीने होने वाली बैठक का एजेंडा क्या होगा, अभी इसके बारे में विस्तृत जानकारी नहीं मिल पाई है। लेकिन, दोनों देश शांति घोषणापत्र से लेकर संयुक्त आर्थिक और ढांचागत परियोजनाओं समेत कई मुद्दों पर बातचीत कर रहे हैं। मून और किम अपनी पहली बैठक में ही अमेरिका के साथ मिलकर शांति घोषणापत्र जारी करने के लिए तैयार हो गए थे। इसके तहत तीनों देश कोरियाई युद्ध खत्म होने का एलान करेंगे। लेकिन, अमेरिका इस बात पर अड़ा हुआ है कि उत्तर कोरिया द्वारा परमाणु कार्यक्रम खत्म करने के बाद ही वह शांति घोषणापत्र पर दस्तखत करेगा।
NSG पर चीन को कड़ा संदेश, अमेरिका ने भारत को दिया यह विशेष दर्जा, दक्षिण एशिया का इकलौता राष्ट्र बना
4 August 2018
वाशिंगटन: अमेरिका ने भारत को एक खास दर्जा देकर न सिर्फ दुनिया में हमारे देश की धाक बढ़ाई है, बल्कि चीन को एक कड़ा संदेश भी दिया है. एनएसजी में भारत के शामिल करने का विरोध करने वाले चीन के लिए यह एक तरह से बड़ा झटका है क्योंकि अमेरिका के डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने भारत को रणनीतिक व्यापार अधिकरण -1 (एसटीए-1) का दर्जा दिया है और यह दर्जा पाने वाला भारत दक्षिण एशियाई देशों में इकलौता राष्ट्र बन गया है. अमेरिका द्वारा उच्च प्रौद्योगिकी के उत्पादों की बिक्री के लिए निर्यात नियंत्रण में ढील की घोषणा से दोनों देशों के बीच रक्षा और कुछ अन्य क्षेत्रों में संबंध और मजबूत हो सकेंगे. खास बात है कि यह दर्जा पाने वाला भारत एकमात्र दक्षिण एशियाई देश है. इसके अलावा अमेरिका के नाटो सहयोगियों दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया तथा जापान को यह दर्जा मिला हुआ है. दरअसल, डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने भारत को अपने देश की तथाकथित रणनीतिक व्यापार अधिकरण-एक सूची (एसटीए-1) की सूची में स्थान दिया है और इससे यहां से भारत को उच्च प्रौद्योगिकी वाले उत्पादों का निर्यात करना सुगम सुगम होगा. अमेरिका में भारत के राजदूत नवतेज सिंह सरना ने इस निर्णय को आर्थिक और सुरक्षा के क्षेत्रों में भागीदार के रूप में भारत के प्रति अमेरिका के बढ़ते भरोसे का उदाहरण बताया है. उन्होंने कहा है कि इससे द्विपक्षीय रक्षा संबंधों को बढ़ावा मिलेगा. अमेरिका ने 2016 में भारत को प्रमुख रक्षा भागीदार के रूप में मान्यता दी थी. इसके बाद अब इस साल अमेरिका द्वारा भारत को एसटीए-1 का दर्जा दिया गया है. सरना ने कहा, ‘‘यह न केवल बढ़ते भरोसे का प्रतीक है बल्कि यह आर्थिक और सुरक्षा भागीदार के रूप में भारत की क्षमताओं को भी मान्यता है. पहले से यह माना जाता है कि भारत में कई स्तर की निर्यात नियंत्रण व्यवस्था है, जिससे अधिक संवेदनशील प्रौद्योगिकियां और दोहरे इस्तेमाल वाली प्रौद्योगिकियों का भारत को बिना किसी जोखिम के हस्तांतरित किया जा सकता है.’’ अमेरिका के वाणिज्य मंत्री विल्बर रॉस द्वारा भारत को एसटीए-1 का दर्जा देने की घोषणा के बाद सरना ने यहां एक कार्यक्रम में अपने संबोधन में यह बात कही. इस तरह से भारत एसटीए-1 दर्जा पाने वालों की लिस्ट में 37वां देश बन गया है. यह दर्ज अमूमन अमेरिका द्वारा नाटो सदस्यों को दिया जाता है. गौरतलब है कि भारत के लिए यह दर्जा इसलिए भी खास है क्योंकि भारत अभी तक न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रूप यानी एनएसजी की सदस्यता नहीं मिली है, जिसका चीन हमेशा विरोध करता रहा है. परंपरागत तौर पर देखा जाए तो अमेरिका उन्हीं देशों को एसटीए-लिस्ट में शामिल करता है जो चार निर्यात नियंत्रण तंत्र का सदस्य होता है. मसलन, मिसाइल टेक्नोलॉजी कंट्रोल रिजाइम, वासेनर अरैंजमेंट (WA) ऑस्ट्रेलिया ग्रुप (AG)और एनएसजी. हालांकि, भारत इनमें से तीन का सदस्य तो है, मगर एनएसजी की मान्यता अभी तक नहीं मिली है, क्योंकि चीन बार-बार इसकी राह में बाधा बन कर खड़ा हो जाता है. बता दें कि अमेरिका के इस फैसला का भारत ने स्वागत किया है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि अमेरिका का यह फैसला प्रमुख रक्षा भागीदार के रूप में भारत को मान्यता है और संबंधित बहुपक्षीय निर्यात व्यवस्था में एक जिम्मेदार सदस्य के रूप में उसके बेदाग रिकॉर्ड की पुष्टि करता है.
बांग्लादेश में छात्रों का राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन पांचवें दिन भी जारी
3 August 2018
ढाका। बांग्लादेश में हजारों छात्रों का राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन लगातार पांचवें दिन जारी रहा। इसकी वजह से सरकार को गुरुवार को सभी हाईस्कूल बंद करने पड़े। एक सड़क हादसे में दो छात्रों की मौत से आक्रोशित छात्र मंत्री शाहजहां खान के इस्तीफे की मांग पर अड़े हैं। ज्यादातर प्रदर्शनकारी किशोर उम्र के हैं। गुरुवार को राजधानी ढाका और आसपास के इलाकों में भारी बारिश के बावजूद छात्रों ने प्रदर्शन किया। बीते रविवार को एक तेज रफ्तार बस ने दो छात्रों को कुचल दिया था। इससे छात्रों का गुस्सा भ्रष्टाचार के लिए बदनाम देश के परिवहन विभाग पर फूट पड़ा। परिवहन नियमों का सही से पालन नहीं करवा पाने के लिए छात्रों ने सरकार को जिम्मेदार ठहराया। मंत्री शाहजहां खान के एक बेतुके बयान ने छात्र प्रदर्शन को तेज कर दिया। खान ने प्रदर्शन पर सवाल खड़े करते हुए कहा, "दो बच्चों की मौत पर इतना हो-हल्ला क्यों? जबकि एक दिन पहले ही एक भारतीय बस ने 33 लोगों को कुचल दिया था।" खान ने हालांकि बाद में माफी मांग ली थी।
पाकिस्तान में इमरान खान की सुरक्षा के लिए सतर्कता, राष्ट्रपति भवन में शपथ लेंगे
2 August 2018
इस्लामाबाद: पाकिस्तान में इमरान खान की सुरक्षा को लेकर विशेष सतर्कता बरती जा रही है. पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) प्रमुख इमरान खान डी-चौक या परेड ग्राउंड जैसी खुली जगह के बजाय राष्ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे. खान की पार्टी 25 जुलाई को हुए आम चुनाव में सबसे बड़े दल के रूप में उभरी है. उम्मीद की जा रही है कि 65 साल के इमरान खान 11 अगस्त को प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे. पार्टी सूत्रों ने बताया कि खान ने वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की थी जिसमें सरकार के गठन के अलावा, वह कहां शपथ लेंगे और प्रधानमंत्री बनने के बाद कहां रहेंगे, इस पर भी चर्चा की गई. पार्टी के एक नेता ने कहा कि यह फैसला किया गया है कि वह राष्ट्रपति भवन में शपथ लेंगे, जो एक महफूज स्थान है. राष्ट्रपति ममून हुसैन उन्हें शपथ दिलाएंगे. हालांकि, पार्टी ने अब तक इस बारे में खुलासा नहीं किया है कि खान के शपथ ग्रहण समारोह में किन्हें बुलाया जाएगा, लेकिन स्थानीय मीडिया के मुताबिक, पूर्व भारतीय क्रिकेटर कपिल देव, सुनील गावस्कर, नवजोत सिंह सिद्धू और बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान को आमंत्रित किया जा सकता है सूरजपुर जिले के मोहनपुर क्षेत्र में भी हाथियों का एक दल पिछले एक माह से दिखाई दे रहा है। हाथियों के आतंक को देखते हुए पूरे संभाग में वन विभाग की टीम अलर्ट पर है। दलों की लगातार मॉनीटरिंग की जा रही है और संरक्षित क्षेत्र के बाहर लगाई गई सुरक्षा फेंसिंग के उस पास इन्हें खदेड़ने के प्रयास किए जा रहे हैं। गांवों में सतर्कता को लेकर शाम ढ़लते मुदादी कराई जा रही है। वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि ये हाथी दल दिनभर जंगलों में रहते हैं और शाम ढ़लते ही गांवों का रुख करने लगते हैं।
ब्रिटेन में विजय माल्या के प्रत्यर्पण के संकेत
1 August 2018
लंदन। ब्रिटेन की एक अदालत ने भारतीय बैंकों के 9000 करोड़ रुपये लेकर फरार शराब कारोबारी विजय माल्या के भारत प्रत्यर्पण के संकेत दिए हैं। अदालत ने भारतीय प्रशासन से माल्या के प्रत्यर्पण के बाद उसे रखे जाने वाले आर्थर रोड जेल की बैरक नंबर 12 का तीन हफ्ते में वीडियो मांगा है। साथ ही मामले की अंतिम सुनवाई की तारीख 12 सितंबर घोषित की है। कोर्ट ने इतने ही समय तक माल्या की जमानत अवधि भी बढ़ा दी है। ब्रिटिश कोर्ट की जज एम्मा आर्बुथनॉट ने मंगलवार को सुनवाई के दौरान कहा कि वह मामले को पूरी तरह से नहीं सुन पाई हैं। उन्होंने केवल भारत सरकार का प्रतिनिधित्व कर रहे क्राउस प्रोसीक्यूशन सर्विस (सीपीएस) और माल्या के बचाव पक्ष की टीम को सुना है। माल्या के बचाव पक्ष के वकीलों ने दलील दी है कि मुंबई की आर्थर रोड जेल की बैरक नंबर-12 के हालात ठीक नहीं हैं। इसीलिए जज ने भारतीय प्रशासन से बैरक-12 का एक चरणबद्ध वीडियो देने को कहा है। इस बैरक में ही भारतीय अदालतों में मामलों की सुनवाई के दौरान माल्या को रखा जाना है। ब्रिटिश की महिला जज एम्मा आर्बुथनॉट ने कहा, "मैं बैरक-12 का वीडियो देखना चाहूंगी। ताकि पता चले कि उसमें खिड़कियां हैं कि नहीं। यह वीडियो दोपहर में दिन की रोशनी में बिना किसी आर्टीफीशियल लाइट के शूट किया जाना चाहिए।" जज ने तीन हफ्ते में यह वीडियो सभी पक्षों को सौंपने को कहा है। इससे पहले, भारत सरकार की ओर से सीपीएस के बैरिस्टर मार्क समर्स ने जज की चिंता को दूर करने के लिए भारत सरकार की ओर से आश्वासन पत्र और बैरक-12 के फोटो सौंपे। समर्स ने बताया कि इस बैरक में सिर्फ छह लोग रहेंगे और यह पूरी तरह से साफ-सुथरी है। निजी शौचालय और नहाने की सुविधा है। इसे नियमित रूप से साफ किया जाता है। गद्दे और चादर साफ-सुथरे होंगे और अन्य आश्वासनों को भी पूरा किया जाएगा। जबकि माल्या के बचाव पक्ष की अगुवाई कर रहे क्लेयर मांटगोमरी ने कहा कि बैरक-12 में नेचुरल लाइट नहीं है। भारत सरकार के आश्वासन पर भरोसा नहीं किया जा सकता। जेल की फोटो में सूरज की रोशनी बहुत तेज दिख रही है। लेकिन यह नहीं पता कि वह आ किधर से रही है। वह जैसी भी रोशनी है, वह प्राकृतिक रोशनी नहीं है। माल्या की टीम जेल के निरीक्षण का दबाव बना रही थी। लेकिन सीबीएस ने जोर देकर कहा कि उसने निरीक्षण की जरूरत नहीं क्योंकि उसने पहले ही पर्याप्त सामग्री मुहैया करा दी है। हालांकि जज के जेल का वीडियो मांगने के कदम का सीबीआइ की टीम ने कोर्ट में स्वागत किया। टीम ने कहा कि भारत इन सभी आश्वासनों को लेकर पारदर्शी है। सीबीएस ने विगत आठ मई के विश्व भर में माल्या की संपत्ति जब्त करने के आदेश संबंधी दस्तावेज भी सौंपे हैं पिछले साल अप्रैल में प्रत्यर्पण वारंट पर गिरफ्तार किया गया माल्या तभी से जमानत पर बाहर है। उस पर नौ हजार करोड़ रुपये की धोखाधड़ी और फ्रॉड के मामले चल रहे हैं। अगर ब्रिटिश अदालत भारत सरकार के पक्ष में फैसला सुनाती है तो माल्या के प्रत्यर्पण आदेश पर ब्रिटेन के गृह सचिव के दस्तखत में दो महीने का समय लगेगा। हालांकि दोनों ही पक्षों को ब्रिटेन की उच्च अदालतों में फैसले के खिलाफ अपील करने का मौका मिलेगा। धन चुराने व मनी लांड्रिंग से इन्कार शनिवार की सुबह माल्या जैसे ही अदालत में सुनवाई के लिए पहुंचा उसने धन चुराने और मनी लांड्रिंग के आरोपों को झूठा करार दिया। उसने भारतीय अदालतों में बकाया रकम चुकाने की बात को दोहराते हुए कहा कि हमने कर्नाटक हाईकोर्ट को बकाया रकम चुकाने का एक अच्छा ऑफर दिया था। चूंकि संपत्ति अब अदालत के सामने और मैं खुद अदालत की पहुंच में हूं, उम्मीद करता हूं कि यह सब खत्म होगा। आखिर में तो कोर्ट ही फैसला करेगा।
ट्रंप ने अमेरिकी पत्रकारों को बताया ‘देशद्रोही’
30 July 2018
वाशिंगटन : अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने देश के पत्रकारों को ‘‘देशद्रोही’’ बताते हुए उन पर अपनी खबरों से लोगों की जान खतरे में डालने का आरोप लगाया. ट्रंप ने कई ट्वीट कर कहा, ‘‘जब ट्रंप डिरेंजमेंट सिंड्रोम से उन्मादी मीडिया हमारी सरकार की आंतरिक बातचीत का खुलासा करती है तो वास्तव में वह ना केवल पत्रकारों बल्कि कई लोगों की जान खतरे में डालती है’’. उन्होंने मुख्यधारा की मीडिया पर गलत खबरें प्रकाशित करने का आरोप लगाते हुए कहा, ‘‘प्रेस की आजादी सटीकता से खबरें रिपोर्ट करने की जिम्मेदारी के साथ आती है’’. उन्होंने कहा, ‘‘मेरे प्रशासन की 90 फीसदी मीडिया कवरेज नकारात्मक है जबकि हम जबरदस्त सकारात्मक नतीजे हासिल कर रहे हैं. इसमें कोई अचरज नहीं है कि मीडिया में विश्वास अब तक के सबसे निचले स्तर पर है’’ अमेरिकी राष्ट्रपति ने आरोप लगाया कि विफल न्यूयॉर्क टाइम्स और अमेजन वाशिंगटन पोस्ट बेहद सकारात्मक उपलब्धियों पर भी बुरी खबरें लिखते हैं और वे कभी नहीं बदलेंगे. इससे पहले ट्रंप ने ट्वीट किया था कि उन्होंने न्यूयॉर्क टाइम्स के प्रकाशक ए जी सल्जबर्जर से व्हाइट हाउस में बेहद अच्छी और दिलचस्प मुलाकात की. दूसरी ओर न्यूयॉर्क टाइम्स के प्रकाशक ने आज कहा कि उन्होंने व्हाइट हाउस में मुलाकात के दौरान ट्रंप को आगाह किया कि समाचार मीडिया पर उनके बढ़ते हमले ‘‘हमारे देश के लिए खतरनाक और हानिकारक’’ है और इससे ‘‘हिंसा बढ़ेगी’’. सल्जबर्जर के मुताबिक, बैठक में टाइम्स के संपादकीय पृष्ठ के संपादक जेम्स बेनेट भी शामिल हुए और व्हाइट हाउस के आग्रह पर यह गोपनीय बैठक थी लेकिन ट्रंप ने इसके बारे में ट्वीट करके इसे सार्वजनिक कर दिया. सल्जबर्जर ने कहा, ‘‘मुलाकात के लिए तैयार होने का मेरे मुख्य उद्देश्य राष्ट्रपति के प्रेस विरोधी बयानों को लेकर चिंता व्यक्त करना था. मैंने सीधे राष्ट्रपति से कहा कि मुझे लगता है कि उनकी भाषा ना केवल विभाजनकारी है बल्कि खतरनाक भी है’
पुतिन से मुलाकात के लिए रूस जाने को तैयार ट्रंप : व्हाइट हाउस
28 July 2018
वाशिंगटन : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप रूस दौरे के लिए राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के निमंत्रण को स्वीकार करने के लिए तैयार हैं. व्हाइट हाउस की प्रवक्ता सारा सैंडर्स ने जारी बयान में कहा, "राष्ट्रपति ट्रंप वाशिंगटन में पुतिन के दौरे को लेकर आशान्वित हैं और साथ ही वह पुतिन के निमंत्रण पर रूस जाने के लिए भी तैयार हैं". पुतिन ने शुक्रवार को कहा था कि वह मॉस्को में ट्रंप के साथ मुलाकात के इच्छुक हैं. पुतिन ने कहा, "हम इस तरह की मुलाकातों के लिए तैयार हैं. हम राष्ट्रपति ट्रंप को मॉस्को बुलाने के लिए तैयार हैं. उन्हें पहले ही इसके बारे में बता दिया गया है". दूसरी तरफ, डोनाल्ड ट्रंप द्वारा रूस के दौरे का निमंत्रण स्वीकार करने के साथ ही उन्होंने उन खबरों को खारिज किया कि उन्हें 2016 के राष्ट्रपति चुनाव से पहले बेटे की रूसी वकील के साथ मुलाकात के बारे में पहले से पता था. राष्ट्रपति के निजी अटॉर्नी रह चुके माइकल कोहेन ने कहा था कि ट्रंप ने रूसी वकील के साथ डोनाल्ड ट्रंप जूनियर की मुलाकात को मंजूरी दी थी, जिनके पास डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन के प्रचार अभियान के बारे में संवेदनशील जानकारी थी. कोहेन के इस बयान संबंधी सीएनएन की रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, "मुझे अपने बेटे डोनाल्ड ट्रंप जूनियर की इस मुलाकात के बारे में कुछ पता नहीं था. ऐसा लग रहा है कि कोई खुद को ट्रैफिक जाम से निकालने के लिए मनगढ़ंत कहानियां गढ़ रहा है"
PM मोदी की तारीफ करने वाले इमरान की पाकिस्‍तान में सरकार? बढ़ी हिंदुस्‍तान की चिंता, ये है वजह
26 July 2018
पाकिस्तान में वोटों की गिनती का काम जारी है और इमरान खान प्रधानमंत्री पद से चंद कदम ही दूर नजर आ रहे हैं. अगर कुछ सीटें कम भी रह जाती हैं तो भी शायद ही कोई ताकत इमरान खान को प्रधानमंत्री बनने से रोक पाए. इमरान खान के लिए कहा जाता है कि वह जब से राजनीति में आए तब से ही प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने के लिए शेरवानी सिलवाए बैठे हैं और जब उन पर फौज के साथ मिलकर राजनीति करने के आरोप लग रहे हैं तो ऐसे में सवाल उठता है कि प्रधानमंत्री बनने के बाद भारत को लेकर उनका रुख़ क्या होगा. इमरान खान अपने चुनावी भाषणों में कई बार बानगी पेश कर चुके हैं कि भारत को लेकर वह क्या सोचते हैं यहां तक की अपने धुर विरोधी नवाज शरीफ पर आरोप लगाने में भी वह भारत को घसीटते रहे हैं. एक दिलचस्प बात यह है कि इमरान खान ने अपने चुनावी भाषणों में प्रधानमंत्री मोदी की ईमानदारी की तारीफ की है और कहा है कि और कुछ भी हो बंदा तो ईमानदार है, नहीं तो उसके भी विदेशों में पैसे होते बैंक अकाउंट होता लेकिन इमरान खान तब तक ही पीएम मोदी की तारीफ करते नजर आते हैं जब तक कि वह नवाज शरीफ पर निशाना साधने में इसका इस्तेमाल करें. जैसे ही भारत और पाकिस्तान के रिश्तों की बात आती है तो इमरान के तेवर काफी तल्ख होते हैं जिसमें कोई गुंजाइश नजर नहीं आती. हालांकि सत्ता पर बैठने के बाद हर कोई अपने आपको थोड़ा ठीक करने की कोशिश करता है. इमरान खान कहते हैं कि भारत ने नवाज के साथ मिलकर पाकिस्तान की फौज को कमजोर किया है यानि एक तीर से दो निशाने साधे हैं. पाकिस्तान की फौज को पूरी तरह से सर आंखों पर बिठाते हैं तो दूसरी और नवाज पर आरोप भी लगाते हैं और पाकिस्तान में भारत विरोधी भावना को भड़काते हैं. अपने चुनावी भाषणों में वह प्रधानमंत्री मोदी को काफी भला बुरा कह चुके हैं. उन्होंने यहां तक कहा है कि अगर प्रधानमंत्री मोदी कश्मीर को मामला अपने तरीके से हल करना चाहते हैं, तो वह उनकी भूल है. उन्‍होंने पाकिस्तान की फौज की ताकत का हवाला भी दिया. वह यूएन रेजुलेशन के जरिए कश्मीर समस्या को सुलझाने की बात भी करते हैं, लेकिन इन सब बातों को चुनाव जीतने से पहले की एक ऐसी औपचारिकता मानी जाए, जिसमें भारत और पाकिस्तान दोनों के नेता एक दूसरे देश के खिलाफ आग उगल कर वोट जुटाने की कोशिश करते हैं तो यह इतना भर नहीं है. इमरान खान की जीत भारत के लिए कई चिंताएं लेकर आई हैं. इमरान पर अपने ही देश में उदारवादी और विरोधी पार्टियों ने 'तालिबान खान' होने का आरोप लगाया है्. जाहिर है इमरान खान ने मानवाधिकार की रक्षा के नाम पर जिस तरह से पाकिस्तान के अलग-अलग इलाकों में आतंकवादियों के खिलाफ सैनिक ऑपरेशन का विरोध किया उनकी सहानुभूति जीती और उन इलाकों में अपनी पैठ बनाई है. अब इमरान उसे और पुख्ता करने की कोशिश करेंगे. कई इलाकों में पाकिस्तान की सेना भी ऑपरेशन नहीं करना चाहती थी और इमरान खान के इस रूख ने उन्हें सहूलियत दी ताकि आतंकवादियों के खिलाफ एक्शन ना लिया जाए. वैसे आतंकवादी हैं जिनको लेकर यह कहा जाता है कि पाकिस्तान की सेना के सहयोग उनकी मदद के बिना वह टिक नहीं सकते. यानि ऐसे आतंकवादियों के साथ खड़े होकर इमरान खान ने कहीं ना कहीं सेना की ही मदद की. उससे सिविल गवर्नमेंट के नेशनल एक्शन प्लान के तहत आतंकवादियों को पूरी तरह से सफाया करने के मंसूबे के रास्ते में खड़ी रही. अपने निहित स्वार्थों की वजह से अब यह गठजोड़ सत्ता तक पहुंचती नजर आ रही है, तो एक तरफ आतंकी तंजीम है तो दूसरी तरफ पाकिस्तान की सेना का हाथ भी पूरी तरह से उनकी पीठ पर रहा है. यह नई बात नहीं है कि इमरान खान और चाइना के बीच आपसी गठजोड़ के आरोप लग रहे हो. 2013 में भी कमोबेश स्थिति यही थी लेकिन तब इमरान सत्ता तक नहीं पहुंच पाए और अब जब वह पहुंच रहे हैं तो भारत के लिए चुनौती बड़ी है. पाकिस्तान में विदेश नीति पर हमेशा से सेना का दखल रहा है. इमरान खान के सत्ता संभालने के बाद वह पूरी तरह से सेना के हाथ में ही होगा. नवाज सरकार के साथ या उसके पीछे चुनी हुई किसी सरकार के साथ जब-जब भारत के रिश्ते बेहतर होने की दिशा में बड़े हैं या तो कोई बड़ा आतंकी हमला हुआ है या फिर पाकिस्तान की तरफ से सीजफायर उल्लंघन किया गया है्. सीमा पार से कोई और वारदात शांति की प्रक्रिया टूटेगी. मुंबई अटैक से लेकर पठानकोट हमले तक इसका उदाहरण है. भारत हमेशा से कहता रहा है कि आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकते तो सवाल ये है कि क्या पाकिस्‍तान की सत्ता भारत के खिलाफ आतंकवाद को खत्म करके जवाब देगी. वैसे कूटनीति के रास्ते भारत के लिए हमेशा से खुले रहे हैं और आगे भी खुले रहेंगे, लेकिन पाकिस्तान की नई सत्ता और वह भी इमरान खान जिसके पीछे सेना खड़ी है उसके साथ बातचीत करना अपने आप में एक चुनौती है.
सीरिया: ISIS के आत्मघाती हमले में 32 की मौत
25 July 2018
दमिश्क। दक्षिणी सीरिया में हुए अात्मघाती हमले में 32 लोगों की मौत हो गई है। इसमें कुछ आम नागरिक भी हैं। शुरुआती जानकारी के मुताबिक ये आत्मघाती हमला इस्लामिक स्टेट ने किया है। ये हमला सीरिया के दक्षिणी सीरिया के शहर स्वेदा में ये हमला हुआ है। हमला होने के बाद हरकत में आए सुरक्षाबलों ने दो आत्मघाती हमलावरों को धमाका करने से पहले घेरकर ढेर कर दिया। वहीं इस्लामिक स्टेट के आतंकियों ने स्वेदा शहर से लगे तीन गांवों में हमला करके कई लोगों की हत्या कर दी है। हालांकि अभी तक इसकी आधिकारिक जानकारी सामने नहीं आई है।
मुंबई आतंकवादी हमला मामले में दोषी डेविड हेडली पर अमेरिकी जेल में हमला, हालत गंभीर
24 July 2018
नई दिल्ली: साल 2008 में मुंबई आतंकवादी हमले के मामले में दोषी पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक डेविड कोलमैन हेडली पर कैदियों द्वारा हमले की मीडिया रिपोर्ट के सिलसिले में अमेरिकी अधिकारियों ने आज टिप्पणी से इनकार कर दिया. अमेरिकी मीडिया ने रिपोर्ट दी है कि हेडली पर कैदियों ने हमला किया जिसके बाद उसकी हालत गंभीर बतायी जा रही है. शिकागो में मेट्रोपोलिटन करेक्शनल सेंटर ने ईमेल से दिये एक संक्षिप्त जवाब में घटना के बारे में बताते हुए कहा , ‘‘हमारे पास उस व्यक्ति (हेडली) के बारे में सूचना नहीं है.’’कुछ मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि आठ जुलाई को दो अन्य कैदियों ने हेडली पर हमला किया था. रिपोर्ट में कहा गया है कि घायल हेडली को नॉर्थ इवांस्टन अस्पताल में भर्ती कराया गया है.
टोरंटो में फायरिंग : हमलावर सहित 2 की मौत, 1 बच्ची घायल
23 July 2018
नई दिल्ली: कनाडा के टोरंटो शहर में एक रेस्त्रां में हुई फायरिंग में 9 लोगों के घायल होने की खबर है. पुलिस के मुताबिक फायरिंग करने वाले शख्स की भी मौत हो गई है. पुलिस ने घटनास्थल पर मौजूद चश्मदीदों से अपील की इस गोलीकांड के बारे में कोई भी जानकारी हो तो तुरंत बताएं. स्थानीय मीडिया के मुताबिक यह गोली एक रेस्त्रां में चली है. टोरंटो की ट्रैफिक विभाग के मुताबिक पुलिस घटनास्थल पर मौजूद है और जल्द ही और जानकारी दी जायेगी टोरंटो पुलिस की ओर से किये गये एक ट्वीट के मुताबिक 9 लोगों को गोली मारी गई है. पीड़ितों की हालत के बारे में अभी कुछ भी पत नहीं है. घायलों में एक लड़की शामिल है. इन लोगों में हमलावर शामिल नहीं जिसकी मौत हो चुकी है. घायलों को पास के अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.​
ब्रिटिश पुलिस ने की नर्व एजेंट हमलावर की पहचान
20 July 2018
लंदन। ब्रिटिश पुलिस ने इसी साल मार्च में पूर्व रूसी जासूस सर्गेई स्क्रिपल और उनकी बेटी यूलिया पर नर्व एजेंट से हमला करने वाले को पहचान लिया है। दक्षिण पश्चिम इंग्लैंड के सैलिसबरी में सर्गेई और यूलिया पर नर्व एजेंट नोविचोक से हमला किया गया था। जांच अधिकारियों का मानना है कि हमलावर रूसी नागरिक था। "प्रेस एसोसिएशन" न्यूज एजेंसी ने गुरुवार को बताया कि जांच अधिकारियों को लगता है कि उन्होंने हमलावर को सीसीटीवी फुटेज के जरिए पहचान लिया है। उस समय ब्रिटेन आने वाले लोगों के दस्तावेजों के जरिए फुटेज का मिलान भी किया गया है। हालांकि, पुलिस ने इस रिपोर्ट पर कोई टिप्पणी करने से फिलहाल इनकार कर दिया है। उल्लेखनीय है कि चार मार्च को पूर्व रूसी जासूस और उनकी बेटी सैलिसबरी में बेहोशी की हालत में मिले थे। मेडिकल जांच में पता चला कि उन पर नोविचोक से हमला किया गया था। ब्रिटेन उसी समय से रूस पर इस हमले का आरोप लगाता रहा है।
यूरोपियन यूनियन ने Google पर लगाया 5 अरब डॉलर का जुर्माना, जानिए क्या है कारण
19 July 2018
यूरोपीय यूनियन (ईयू) ने इंटरनेट सेवांए देने वाली कंपनी गूगल पर 4.3 अरब यूरो का जुर्माना लगाया है. खास बात यह है कि प्रतिस्पर्धा प्रावधानों के उल्लंघन को लेकर ईयू द्वारा लगाया गया यह अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना है. ईयू के प्रतिस्पर्धा आयुक्त मार्गरेट वेस्टगर ने कहा कि हमनें तीन साल से जारी जांच के बाद यह फैसला किया है. जांच में पता चला कि गूगल ने अपने ब्राउजर और सर्च इंजन का बाजार में विस्तार के लिए एंड्रायड के दबदबे का दुरुपयोग किया है. वेस्टगर ने इस बात की जानकारी एक प्रेस कांफ्रेंस में दी. उन्होंने इस दौरान कहा कि यूरोपीय संघ ने प्रतिस्पर्धा नियमों के उल्लंघन को लेकर गूगल पर 4.34 अरब यूरो का जुर्माना लगाया है. हमारी जांच में सामने आया है कि गूगल इंटरनेट सर्च में अपनी हिस्सेदारी को मजबूत करने के लिए अवैध गतिविधियों में शामिल रहा है. लिहाजा अब उसे 90 दिनों के भीतर या तो उन गतिविधियां बंद करना होगा. अगर वह ऐसा नहीं करता है तो उसे औसत दैनिक राजस्व का पांच प्रतिशत जुर्माना के तौर पर भुगतान करना होगा. वेस्टगर ने जुर्माने के निर्णय की अग्रिम सूचना देने के लिए मंगलवार रात गूगल सीईओ सुंदर पिचाई से भी बात की थी. उन्होने कहा कि गूगल ने सैमसंग और हुआवे जैसी स्मार्टफोन निर्माता कंपनियों के साथ गठजोड़ कर स्मार्टफोन में अपना ब्राउजर और सर्च इंजन प्रीइंस्टॉल करा प्रतिस्पर्धियों के मौके छीने. उन्होंने कहा कि गूगल ने अपनी कई अन्य एप और सेवाओं के इस्तेमाल के बदले गूगल सर्च को डिफॉल्ट सर्च-इंजन बनाने की बाध्यता रखी. इसके अलावा उसने गूगल सर्च को प्री - इंस्टॉल कराने के लिए स्मार्टफोन निर्माताओं एवं मोबाइल नेटवर्क कंपनियों को वित्तीय प्रोत्साहन भी दिया. गूगल पर जुर्माना लगाए जाने की खबर के सामने आने के बाद गूगल के प्रवक्ता अल वर्नी ने इसके खिलाफ अपील करने की बात कही. उन्होंने कहा कि एंड्रायड ने लोगों के लिए अधिक मौके सृजित किए ना की कम किए हैं. वर्नी ने कहा कि मजबूत परिस्थिति, तेज नवाचार और कम कीमतें शानदार प्रतिस्पर्धा के पारंपरिक सूचक हैं. गौरतलब है कि, इससे पहले भी यूरोपीय संघ अमेरिका की दो अन्य बड़ी कंपनियों एप्पल और फेसबुक पर भी भारी - भरकम जुर्माना लगा चुका है. वहीं अमेरिका द्वारा हाल ही में ईयू पर इस्पात एवं एल्युमिनीयम पर व्यापार शुल्क को लेकर जारी तनाव के बीच इस निर्णय से दोनो देशों के बीच एक बार फिर से तनाव उच्च स्तर पर पहुंच सकता है
ट्रंप अमेरिकी चुनाव में रूसी दखल संबंधी बयान से पलटे
18 July 2018
वाशिंगटन : अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अमेरिकी चुनाव में रूस के कथित दखल संबंधी अपने एक दिन पहले के बयान से पलट गए हैं. ट्रंप ने मंगलवार को संवाददाताओं को बताया कि मैंने गलती से वह बयान दे दिया था. ट्रंप ने कहा कि 2016 के चुनाव में रूस के कथित दखल के अमेरिकी खुफिया एजेंसी (सीआईए) के दावों को मानते हैं. उन्होंने कहा कि सोमवार को दिए गए उनके बयान का मतलब था कि उन्हें रूस के कथित दखल करने का कोई कारण नजर नहीं आता. उन्होंने कहा,"मैंने कॉन्फ्रेंस की ट्रांस्क्रिप्ट पढ़ी, तो लगा कि मुझे सफाई देनी चाहिए." ट्रंप ने कहा, "मुझे 'क्यों नहीं किया होगा' बोलना था, लेकिन मैंने गलती से 'क्यों किया होगा' बोल दिया. ट्रंप ने डेमोक्रेट और रिपब्लिकन पार्टी की ओर से आलोचना किए जाने के बाद यह सफाई दी है. गौरतलब है कि सोमवार को फिनलैंड की राजधानी हेलसिंकी में संयुक्त संवाददाता सम्मेलन के दौरान एक पत्रकार ने ट्रंप से पूछा था कि रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने 2016 राष्ट्रपति चुनावों में हस्तक्षेप के आरोप का खारिज किया है लेकिन अमरीका की खुफिसा एजेंसियों का कहना है कि रूस ने हस्तक्षेप किया है. आप क्या मानते हैं? इस सवाल के जवाब में ट्रंप ने कहा था, "हमारे लोग मेरे पास आए. उन्होंने कहा कि उन्हें रूस का हाथ लगता है. मेरे साथ राष्ट्रपति पुतिन हैं, उन्होंने अभी कहा कि रूस का हाथ नहीं है. मैं कहूंगा कि उन्होंने ऐसा क्यों किया होगा
अमेरिका ने रूसी महिला को किया गिरफ्तार, बताया जासूस
17 July 2018
वाशिंगटन : वॉशिंगटन में संघीय अभियोजकों ने खुलासा किया है कि उन्होंने 29 वर्षीय महिला को गिरफ्तार किया है जो रूस की एजेंट है। उनके मुताबिक महिला अमेरिका में रह रही थी और रूस के एक वरिष्ठ अधिकारी की तरफ से गुप्त एजेंट की तरह काम कर रही थी। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की मुलाकात के कुछ ही घंटों बाद मारिया बुटिना की गिरफ्तारी की घोषणा की गई। कुछ दिन पहले विशेष अधिवक्ता रॉबर्ट मूलर ने रूस के 12 खुफिया अधिकारियों पर आरोप लगाया था कि उनके ही इशारों पर 2016 के चुनाव में गड़बड़ी के लिए हैकिंग के प्रयास किए गए थे। अदालत के दस्तावेजों के मुताबिक बुटिना ने अमेरिकी राजनीतिज्ञों और उम्मीदवारों से मुलाकात की , विशेष रूचि समूहों द्वारा प्रयोजित कार्यक्रमों में भाग लिया। उसका इरादा, यहां से प्राप्त जानकारियों के बारे में ‘‘ मास्को तक सूचना ’’ पहुंचाना था। अदालत के दस्तावेजों में रूसी अधिकारी का नाम नहीं दिया है। आपको बता दें कि एक दिन पहले ही रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अमेरिका के विशेष अभियोजक रॉबर्ट मूलर द्वारा की जा रही अमेरिकी चुनावों में कथित हस्तक्षेप की जांच को ‘‘ राजनीतिक खेल ’’ करार देते हुए कहा था कि इसका असर अमेरिका-रूस रिश्तों पर नहीं पड़ना चाहिए। मूलर द्वारा जांच में रूस के 12 खुफिया एजेंट पर डेमोक्रेटिक पार्टी के कम्प्यूटर हैक कर ट्रंप अभियान की मदद करने का आरोप लगाये जाने के संबंध में सवाल करने पर पुतिन ने ‘ फॉक्स न्यूज ’ से कहा कि ’’ यह उनके लिए चिंता का विषय नहीं है लेकिन यह ‘‘ आंतरिक राजनीतिक संघर्ष ’’ का हिस्सा है. मुझे इसमें तनिक भी रुचि नहीं है। ’’ अनुवादक की मदद से बात करते हुए उन्होंने यह बयान दिया। पुतिन ने कहा , ‘‘ यह अमेरिका का आंतरिक राजनीतिक तिकड़म है। इसे अमेरिका और रूस के संबंध का आधार ना बनाए और आतंरिक राजनीतिक कलह की वजह से इसे (संबंधों को) बाधित ना करें
थाईलैंड में गुफा से बचाए गए बच्चों को गुरुवार को अस्पताल से मिलेगी छुट्टी
14 July 2018
बैंकॉक: थाईलैंड में एक गुफा से बचाए गए 12 युवा फुटबॉल खिलाड़ियों और उनके कोच को गुरुवार को अस्पताल से छुट्टी दी जाएगी. स्वास्थ्य अधिकारियों ने यह जानकारी दी. इन्हें मनोवैज्ञानिक सहायता दिये जाने के साथ ही यह सलाह भी दी गई है कि मीडिया में साक्षात्कार देने से बचें. मीडिया में मौत को मात देकर गुफा से बाहर आने की उनकी इस कहानी को जानने को लेकर बेहद उत्सुकता है. अपनी फुटबॉल अकादमी के नाम पर ‘वाइल्ड बोर्स’ नाम का यह समूह 23 जून को उत्तरी थाईलैंड की थाम लुआंग गुफा में जन्मदिन बनाने गया था लेकिन बाढ़ का पानी भर जाने से वहीं फंस गया. इन सभी को 10 जुलाई को सुरक्षित निकाल लिया गया लेकिन कई दिनों तक जिंदगी के लिये उनकी जंग राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मीडिया में छाई रही. लोक स्वास्थ्य मंत्री पियासाकोल सकोलसात्तयातोर्न ने आज संवाददाताओं को बताया, ‘सभी 13 वाइल्ड बोर्स अच्छी सेहत में हैं .. सभी अच्छे हैं. उन सभी को एक साथ गुरुवार को छुट्टी दे दी जाएगी’. बच्चों और उनके माता - पिता को सलाह दी गई है कि वे अपने दोस्तों और परिवार के साथ समय बिताएं और मीडिया को साक्षात्कार न दें क्योंकि इससे उत्तर अभिघात तनाव विकार लक्षणों के फिर से प्रकट होने का अंदेशा रहता है. इन युवा फुटबॉलरों और उनके कोच के गायब होने और फिर बेहद दिलेरी भरे अंदाज में उन्हें बचाने के चलाए गए राहत अभियान पर दुनिया भर की नजर थी. हॉलीवुड प्रोड्यसर भी इस विषय पर फिल्म बनाने पर विचार कर रहे हैं
चीन के सिचुआन प्रांत में एक औद्योगिक पार्क में हुए विस्फोट में 19 लोगों की मौत
13 July 2018
चीन के सिचुआन प्रांत में एक औद्योगिक पार्क में हुए विस्फोट में 19 लोगों की मौत हो गई जबकि 12 घायल हो गए. प्रांतीय कार्यसुरक्षा प्रशासन के मुताबिक, यह विस्फोट गुरुवार को शाम लगभग 6.30 बजे जियांगान काउंटी के एक औद्योगिक पार्क में हेंगडा कंपनी के रासायनिक संयंत्र में हुआ. काउंटी प्रशासन का कहना है कि शुक्रवार सुबह आग पर काबू पाया गया. घायलों की हालत स्थिर बताई जा रही है. मामले की जांच चल रही है. आपको बता दें कि चीन में कार्य सुरक्षा मानकों की स्थिति में सुधार के लगातार प्रयास किये जा रहे हैं लेकिन चीन में जानलेवा औद्योगिक हादसे अब भी आम बात हैं.
पाकिस्तान में भयंकर विस्फोट, ANP नेता हारून बिल्लौर सहित 14 लोगों की मौत
11 July 2018
पेशावर: पाकिस्तान के पेशावर शहर में मंगलवार रात एक चुनावी बैठक में हुए संदिग्ध आत्मघाती विस्फोट में अवामी नेशनल पार्टी (एएनपी) के नेता हारून बिल्लौर सहित कम से कम 14 लोग मारे गए. प्रारंभिक खबरों में कहा गया है कि याकातूत इलाके में हुए इस धमाके में एक दर्जन से अधिक लोग घायल भी हुए हैं जिन्हें पास के लेडी रीडिंग अस्पताल भेजा गया है. विस्फोट तब हुआ जब बिल्लौर और ए एन पी के कार्यकर्ता पार्टी की एक बैठक के लिए एकत्र हुए. बिल्लौर के मंच पर पहुंचने पर वहां पटाखे चलाए जा रहे थे कि तभी एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को विस्फोट से उड़ा लिया. डॉन अखबार के मुताबिक, विस्फोट में बिल्लौर गंभीर रूप से घायल हो गए. उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया. राहत एवं बचाव टीम घटनास्थल पर हैं और घटना की जांच शुरू कर दी गई है बिल्लौर के पिता एवं ए एन पी के वरिष्ठ नेता बशीर अहमद बिल्लौर भी 2012 में पेशावर में पार्टी की एक बैठक के दौरान तालिबान के हमलावर द्वारा किए गए आत्मघाती हमले में मारे गए थे
सुप्रीम कोर्ट के जज के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने ब्रेट कैवनॉग को नामित किया
10 July 2018
वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कंजर्वेटिव ब्रेट कैवनॉग को आज सुप्रीम कोर्ट के जज के लिए नामित किया. कैवनॉग के नाम की पुष्टि होने पर वह जस्टिस एंथनी कैनेडी का स्थान लेंगे जिन्होंने हाल ही में सेवानिवृत्त होने की घोषणा की थी. ट्रंप ने 25 जजों की अपनी मूल सूची में से जस्टिस कैवनॉग का नाम चुना. इस सूची में भारतीय मूल के अमेरिकी जज अमूल थापर का नाम भी शामिल था. इन 25 जजों के बारे में ट्रंप ने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट में किसी भी रिक्ति के लिए वह इन्हीं नामों में से ही किसी को नामित करेंगे. व्हाइट हाउस से कैवनॉग के नामांकन की घोषणा करते हुए ट्रंप ने उनके बारे में कहा कि उनका , “ रिकॉर्ड साफ - सुथरा है और वह हमारे समय के सर्वश्रेष्ठ कानूनविदों में से एक हैं.” हालांकि कैवनॉग के नामाकंन को सीनेट की हरी झंडी मिलना बाकी है जो नीतियों को लेकर बुरी तरह बंटी हुई हैं.
चीन ने पाकिस्तान के लिए लांच किए दो सेटेलाइट
9 July 2018
यरुशलम: इजरायल की खुफिया एजेंसी मोसाद ने अपने जासूस एली कोहेन के सीरिया में पकड़े जाने और सरेआम फांसी पर लटकाए जाने के करीब 50 साल बाद उनकी घड़ी को ढूंढ निकालने का दावा किया है. घड़ी तलाशने के लिए एक विशेष अभियान चलाया गया था. इस्राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा , ‘मैं मोसाद के लड़ाकों के दृढ़ एवं साहसिक अभियान की प्रशंसा करता हूं जिसका एकमात्र मकसद अपने महान जासूस की निशानी को इस्राइल को वापस सौंपना था जिसने देश को सुरक्षित बनाए रखने में अहम योगदान दिया था’. जासूसी एजेंसी ने दावा किया कि यह घड़ी मोसाद ने सीरिया में हाल ही में एक विशेष अभियान में खोजी है. हालांकि इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई कि कोहेन की घड़ी उन्हें कहां और किस हाल में मिली है. कोहेन की याद में कई सप्ताह पहले वार्षिक समारोह आयोजित किया गया था. माना जाता है कि मोसाद के निदेशक योस्सी कोहेन ने जासूस की यह घड़ी कोहेन के परिवार को सौंप दी है. कोहेन सीरिया में पकड़े जाने से पहले तक यही घड़ी पहनते थे. मोसाद ने कहा कि इस घड़ी को फिलहाल मोसाद मुख्यालय में डिस्प्ले में रखा गया है. मिस्र में जन्मे कोहेन 1960 के दशक में मोसाद में भर्ती हुए थे. अरब जगत की खुफिया जानकारियां जुटाने के लिए वह सीरिया चले गए. कहा जाता है कि उनकी खुफिया जानकारियां ही 1967 अरब - इस्राइल युद्ध में इस्राइल की जीत का कारण बनी थी. हालांकि सीरियाई सुरक्षा अधिकारियों ने 1964 में उनकी सच्चाई जान ली थी, इसके बाद 18 मई 1965 को कोहेन को फांसी पर लटका दिया गया था.
जासूस की मौत के 50 साल बाद इजरायल की खुफिया एजेंसी मोसाद ने खोज निकाली उसकी घड़ी
7 July 2018
यरुशलम: इजरायल की खुफिया एजेंसी मोसाद ने अपने जासूस एली कोहेन के सीरिया में पकड़े जाने और सरेआम फांसी पर लटकाए जाने के करीब 50 साल बाद उनकी घड़ी को ढूंढ निकालने का दावा किया है. घड़ी तलाशने के लिए एक विशेष अभियान चलाया गया था. इस्राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा , ‘मैं मोसाद के लड़ाकों के दृढ़ एवं साहसिक अभियान की प्रशंसा करता हूं जिसका एकमात्र मकसद अपने महान जासूस की निशानी को इस्राइल को वापस सौंपना था जिसने देश को सुरक्षित बनाए रखने में अहम योगदान दिया था’. जासूसी एजेंसी ने दावा किया कि यह घड़ी मोसाद ने सीरिया में हाल ही में एक विशेष अभियान में खोजी है. हालांकि इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई कि कोहेन की घड़ी उन्हें कहां और किस हाल में मिली है. कोहेन की याद में कई सप्ताह पहले वार्षिक समारोह आयोजित किया गया था. माना जाता है कि मोसाद के निदेशक योस्सी कोहेन ने जासूस की यह घड़ी कोहेन के परिवार को सौंप दी है. कोहेन सीरिया में पकड़े जाने से पहले तक यही घड़ी पहनते थे. मोसाद ने कहा कि इस घड़ी को फिलहाल मोसाद मुख्यालय में डिस्प्ले में रखा गया है. मिस्र में जन्मे कोहेन 1960 के दशक में मोसाद में भर्ती हुए थे. अरब जगत की खुफिया जानकारियां जुटाने के लिए वह सीरिया चले गए. कहा जाता है कि उनकी खुफिया जानकारियां ही 1967 अरब - इस्राइल युद्ध में इस्राइल की जीत का कारण बनी थी. हालांकि सीरियाई सुरक्षा अधिकारियों ने 1964 में उनकी सच्चाई जान ली थी, इसके बाद 18 मई 1965 को कोहेन को फांसी पर लटका दिया गया था.
श्रीलंका संग मिलकर भारत मट्टाला एयरपोर्ट चलाने का इच्छुक
5 July 2018
कोलंबो। दक्षिण श्रीलंका स्थित घाटे में चल रहे मट्टाला अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के संचालन के लिए भारत के साथ एक संयुक्त उद्यम बनाने पर बातचीत हो सकती है। इस संबंध में एक भारतीय प्रतिनिधिमंडल कोलंबो पहुंच चुका है। यह जानकारी श्रीलंका के परिवहन उप-मंत्री अशोक अभयसिंघे ने संसद में एक प्रश्न के जवाब में दी। उन्होंने नुकसान के बावजूद एयरपोर्ट बेचने के बात से साफ इन्कार किया है। मट्टाला एयरपोर्ट का नाम श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे के नाम पर रखा गया है। यह चीन समर्थित परियोजना थी, जो राजपक्षे के गृहनगर हम्बनटोटा में है। उड़ानों में कमी की वजह से 21 करोड़ डॉलर की लागत से तैयार यह एयरपोर्ट सबसे खाली एयरपोर्ट बन गया है। यहां से उड़ने वाली एकमात्र अंतरराष्ट्रीय उड़ान को भी घाटे और उड़ान सुरक्षा मुद्दों के चलते मई में स्थगित कर दिया गया था। सरकार ने 2017 में एयरपोर्ट को मुनाफा कमाने वाला बनाने के लिये निवेशकों को आमंत्रित किया था, लेकिन इस संबंध में कोई प्रस्ताव नहीं मिला था। उधर, राजपक्षे के ड्रीम प्रोजेक्टों में से एक हम्बनटोटा में बने बंदरगाह को कर्ज की भरपाई के लिए चीन को पट्टे पर दिया जा चुका है। गौरतलब है कि राजपक्षे के नेतृत्व वाला विपक्ष राष्ट्रीय संपदा को चीन को बेचने की बात कहकर सरकार के इस कदम का विरोध कर रहा है।
इस्लामिक स्टेट सरगना अबू बकर अल-बगदादी का बेटा मारा गया
4 July 2018
बेरुत: सीरिया के होम्स प्रांत में जिहादियों के एक हमले के दौरान इस्लामिक स्टेट सरगना अबू बकर अल-बगदादी का बेटा हुदायफाह अल-बद्री मारा गया. आईएस की प्रोपैगैंडा एजेंसी अमाक ने मंगलवार को एक बयान में कहा , ‘होम्स में थर्मल पावर स्टेशन पर नुसायरियाह और रूस के खिलाफ अभियान में अल - बद्री मारा गया.’ अमाक ने इसके साथ एक युवक की तस्वीर जारी की है जिसके हाथ में राइफल है. आईएस राष्ट्रपति बशर अल - असद के अलावैत धार्मिक अल्पसंख्यक पंथ के लिए नुसायरियाह शब्द का इस्तेमाल करता है. आईएस ने 2014 में ईराक के बड़े हिस्से पर कब्जे के बाद सीरिया और ईराक में खुद को खलीफा घोषित किया था. बहरहाल , तब से लेकर अब तक सीरिया और इराकी बलों के आतंकवाद रोधी अभियान में जिहादियों को काफी हद तक खदेड़ा गया. पिछले साल इराकी सरकार ने आईएस पर जीत का एलान किया था लेकिन सेना अब भी सीरियाई सीमा पर ज्यादातर मरुस्थलीय इलाकों को निशाना बनाकर अभियान चला रही है. इराक के एक खुफिया अधिकारी ने मई ने बताया था कि कई मौकों पर मृत घोषित किया गया आईएस नेता बगदादी अब भी जिंदा है और सीरिया में है. बगदादी को ‘धरती पर सबसे वांछित व्यक्ति’ घोषित किया गया है और अमेरिका ने उसे पकड़ने पर दो करोड़ 50 लाख डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है
पाकिस्तान आतंकवाद का गढ़, कश्मीर पर फैला रहा झूठः भारत
3 July 2018
संयुक्त राष्ट्र। कश्मीर मसले पर बार-बार मुंह की खाने के बावजूद पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा। उसने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में कश्मीर का मुद्दा फिर उठाने का प्रयास किया तो भारत ने उसे करारा जवाब दिया। भारत ने कहा कि पाकिस्तान दक्षिण एशिया में आतंकवाद का गढ़ है। उसे कश्मीर के बारे में झूठ फैलाने के प्रयास में हमेशा नाकामी का सामना करना पड़ता है। पाकिस्तान के प्रतिनिधि ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में सोमवार को एक बहस के दौरान कहा था कि मानवाधिकार उच्चायुक्त ने कश्मीर में कई उल्लंघनों की पहचान की है। इस पर यूएन में भारत के स्थाई मिशन के प्रथम सचिव संदीप कुमार ने करारा जवाब देते हुए कहा, "पाकिस्तान समूचे दक्षिण एशिया और इसके आसपास आतंकवाद का गढ़ बना हुआ है। उसे भारतीय राज्य जम्मू-कश्मीर के बारे में बार-बार झूठ फैलाने के प्रयास में पहले भी सफलता नहीं मिली और आगे भी नहीं मिलेगी।" इससे पहले आमसभा में गत 25 जून को भी एक बहस के दौरान यूएन में पाकिस्तान की दूत मलीहा लोधी ने कश्मीर का मसला उठाने का प्रयास किया था। उस समय भी भारत ने 193 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के संदर्भों को खारिज किया था। संदीप कुमार ने कहा कि पाकिस्तान के प्रतिनिधिमंडल ने कश्मीर मसला उठाने के लिए यूएन फोरम का दुरुपयोग किया।
मैक्सिको में आया 6.1 की तीव्रता का भूकंप, किसी जानमाल के नुकसान की खबर नहीं
2 July 2018
जलालाबाद (अफगानिस्तान): अफगानिस्तान के पूर्वी हिस्से में स्थित एक शहर में एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को उड़ा लिया, जिसमें कम से कम 19 लोगों की जान चली गई. इनमें कई सिख भी शामिल हैं. अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी. हिंसा की इस घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है. गवर्नर के प्रवक्ता अतुल्लाह खोगयानी ने बताया कि यह हमला प्रांत के गवर्नर के परिसर से कुछ ही सौ मीटर की दूरी पर स्थित एक बाजार में हुआ है, जहां राष्ट्रपति अशरफ गनी बैठक कर रहे थे. उन्होंने बताया कि 19 मृतकों में से 12 सिख और हिंदू हैं. 20 अन्य लोग घायल भी हो गये. अस्पताल में चारों तरफ शोक का माहौल है. प्रांतीय स्वास्थ्य निदेशक नजीबुल्लाह कामवाल ने 19 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की, जिनमें ज्यादातर सिख हैं. यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि हमले में किसे निशाना बनाया गया था. गृह मंत्रालय के प्रवक्ता नजीब दानिश ने पुष्टि की कि एक आत्मघाती हमलावर ने हमले को अंजाम दिया. इस अशांत प्रांत में हाल के दिनों में कई घातक हमले हुए हैं. गनी के प्रवक्ता ने बताया कि राष्ट्रपति अभी भी नंगरहार में ही हैं, लेकिन उनके लिए खतरे जैसी कोई बात नहीं है. गनी इस अशांत प्रांत की अपनी दो दिवसीय यात्रा के तहत आज सुबह एक अस्पताल का उद्घाटन करने जलालाबाद पहुंचे थे. यह हमला ऐसे समय में हुआ है जब एक दिन पहले गनी ने सरकार द्वारा लागू संघर्षविराम की समाप्ति के बाद अफगान सुरक्षा बलों को तालिबान के खिलाफ आक्रामक अभियान चलाने का निर्देश दिया था.
मैक्सिको में आया 6.1 की तीव्रता का भूकंप, किसी जानमाल के नुकसान की खबर नहीं
30 Jun 2018
मैक्सिको। पश्चिमी मैक्सिको में बड़ा भूकंप आया है। रिक्टर स्कैल पर इसकी तीव्रता 6.0 मापी गई है। खबर लिखे जाने तक इस भूकंप से किसी तरह के जानमाल के नुकसान की सूचना नहीं थी। यह भूकंप देश के प्रशांत तट पर शुक्रवार को आया। अमेरिकी जियोलॉजिकल सर्वे के अनुसारजेलिस्को स्टेट में सिहुआटलन से 88 किलोमीटर दूर पश्चिमी-दक्षिण तट पर ये भूकंप के झटके महसूस किए गए। अमेरिकी जियोलॉजिल सर्वे ने भूकंप की गहराई धरती से करीब 10 किलोमीटर अंदर तक बताई गई। देश के सिविल प्रोटेक्शन एजेंसी के प्रमुख लुईस फेलिप ने ट्विटर के माध्यम से कहा कि भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए जिसके बाद किसी तरह के नुकसान की कोई खबर नहीं है। उन्होंने कहा कि इस पर लगातार नजर रखी जा रही है। आपको बता दें कि मैक्सिको में पिछले कुछ महीनों से लगातार भूकंप के छोटे-बड़े झटके महसूस किए गए हैं। इनमें सितंबर महीने में दो झटके महसूस किए गए थे जिसमें करीब सौ लोगों की मौत हो गई थी जबकि कई इमारतें ध्वस्त हो गई थी। फरवरी माह में भी मेक्सिको की राजधानी मेक्सिको सिटी को भूकंप ने शुक्रवार को हिलाकर रख दिया था। मेक्सिको सिटी और उसके आसपास के इलाकों में तेज भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। अमेरिका के भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण (USGS) के मुताबिक, भूकंप की 7.2 तीव्रता थी। भूकंप का केंद्र दक्षिण राज्य ओक्साका में प्रशांत तट के करीब जमीन में 43 किलोमीटर अंदर बताया गया था। हालांकि इसमें भी किसी जान-माल के नुकसान की कोई जानकारी नहीं थी। जैसे ही तेज भूकंप के झटके महसूस किए गए, डरे-सहमे सभी लोग घर, दफ्तरों और बिल्डिंगों से निकलकर बाहर खुले मैदान में इकट्टा हो गए थे। मेक्सिको के 57 वर्षीय एक नागरिक ने कहा, 'यह बहुत ही भयानक था।। यहां सब कुछ हिलना शुरू हो गया था। कार भी इधर-उधर जा रही थी। मुझे कुछ समझ नहीं आया कि क्या करूं।
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की आव्रजन नीति के विरोध में भारतीय मूल की अमेरिकी सांसद गिरफ्तार
29 Jun 2018
भारतीय मूल की अमेरिकी सांसद प्रमिला जयपाल को 575 महिलाओं के साथ अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की आव्रजन नीति के विरोध में गिरफ्तार किया गया. 'द सिएटल टाइम्स' के मुताबिक, जयपाल ने कहा कि उन्हें हार्ट सीनेट ऑफिस की इमारत के बाहर भीड़ को संबोधित करने के लिए बुलाया गया था. जयपाल ने कहा, "मैंने फैसला किया कि मुझे भी उनके साथ विरोध में बैठना चाहिए और गिरफ्तारी देनी चाहिए." उन्होंने कहा, "हमने नारेबाजी की और इन परिवारों को मिलाने की जरूरत पर बात की और राष्ट्रपति की जीरो टोलरेंस नीति को खत्म करने के लिए आवाज उठाई." जयपाल पर भीड़ इकट्ठा करने और बाधा पहुंचाने के लिए 50 डॉलर का जुर्माना लगाया गया है. अमेरिकी कैपिटल पुलिस की प्रवक्ता इवा मालेकी ने कहा कि महिलाओं को गिरफ्तार किया गया है, उन पर अनैतिक रूप से प्रदर्शन करने का आरोप लगा है. यह जयपाल की तीसरी गिरफ्तारी है. इससे पहले वह दो बार भी गिरफ्तार हो चुकी हैं. आव्रजन से जुड़े अधिकारों को लेकर लंबे समय से पैरवी कर रही जयपाल ने कहा कि वह ट्रंप की जीरो टोलरेंस नीति का शिकार हो रहे बच्चों से मुंह नहीं मोड़ सकती. उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि हर अमेरिकी, रिपब्लिकन और डेमोक्रेट को सोचना चाहिए कैसा लगता होगा जब छह महीने के बच्चे को उसकी मां से छीन लिया जाए जयपाल ने शनिवार को एक और विरोध प्रदर्शन 'फैमिलीज बिलोंग टुगेदर' का आयोजन किाय है, जिसका आयोजन वाशिंगटन और देश के अन्य शहरों में होगा. गौरतलब है कि ट्रंप प्रशासन ने अप्रैल में जीरो टोलरेंस नीति शुरू की थी, जिसके तहत मेक्सिको सीमा से अमेरिका में अवैध रूप से प्रवेश कर रहे बच्चों को उनके मां-बाप से अलग कर दिया जाता है.
मलेशिया के पूर्व पीएम नजीब रजाक के यहां छापा, 273 मिलियन डॉलर का सामान जब्त
27 Jun 2018
कुआलांलपुर। भ्रष्टाचार के आरोप में सत्ता से बेदखल हुए मलेशिया के पूर्व पीएम नजीब रजाक के खिलाफ कार्रवाई जारी है। इसी कड़ी में उनके 6 ठिकानों पर पड़े छापे में 273 मिलियन डॉलर का संपत्ति जब्त हुआ है। मलेशियाई पुलिस ने इसे इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी रिकवरी करार दिया है। छापे के बाद पुलिस ने बताया कि निष्‍कासित मलेशियाई नेता नजीब रजाक के 6 विभिन्‍न आवासों से कैश समेत गहने और कीमती लग्‍जरी हैंडबैग्‍स जब्‍त हुए हैं, इनकी कीमत 273 मिलियन डॉलर है। पुलिस प्रमुख अमर सिंह ने बताया, ‘जब्‍त किए गए सभी सामान की कुल कीमत 910 मिलियन से 1.1 बिलियन रिंगिट है। जो 225 मिलियन डॉलर से 273 मिलियन डॉलर के बराबर है।' इससे पहले भी पुलिस ने रजाक के घर से इतना सामान बरामद किया था कि उन्हें ढोने के लिए पांच ट्रक लगाने पड़े। पुलिस के अनुसार, उस वक्‍त जब्‍त नकदी में 26 तरह की करेंसी शामिल थी। नजीब पर सरकारी कंपनी 1 एमडीबी से 70 करोड़ डॉलर (करीब 4,760 करोड़ रुपये) अपने निजी अकाउंट में स्थानांतरित करने का आरोप है। इस साल मई माह में हुए चुनाव में नजीब रजाक के नेतृत्व वाले बीएन गठबंधन को हार का सामना करना पड़ा। जिसके बाद नई महातिर सरकार बनी और इन्‍होंने नजीब व उनके परिवार के देश छोड़ने पर रोक लगा दी। 1957 में आजादी के बाद से मलेशिया में बीएन गठबंधन सत्ता में थी। इस बार के चुनाव में पहली बार बीएन गठबंधन सत्ता से बाहर हुई। महातिर भी बीएन गठबंधन का हिस्सा रहने के दौरान मलेशिया के प्रधानमंत्री रहे थे। हालांकि बाद में उन्होंने बीएन गठबंधन से नाता तोड़ लिया था।
दक्षिण कोरिया-अमेरिका के बीच सैन्य गठबंधन के साझा खर्च को लेकर नए दौर की बातचीत शुरू
26 Jun 2018
दक्षिण कोरिया और अमेरिका ने मंगलवार को सैन्य गठबंधन के साझा खर्च को लेकर नए दौर की चर्चा शुरू की. यह चर्चा उत्तर कोरिया के साथ अमेरिका की वार्ता को ध्यान में रखते हुए दक्षिण कोरिया और अमेरिका के संयुक्त सैन्याभ्यास को रद्द करने के बीच हो रही है. समाचार एजेंसी 'एफे' की रिपोर्ट के अनुसार, यह बैठक मंगलवार को सियोल में शुरू हुई और बुधवार को समाप्त होगी. यह दोनों देशों के बीच चौथे दौर की वार्ता है और ये देश 2018 के अंत तक इस मुद्दे को सुलझा लेना चाहते हैं. दक्षिण कोरियाई क्षेत्र में लगभग 28,500 अमेरिकी जवानों की तैनाती की कुल लागत को बनए रखने पर दोनों देशों के बीच सहमति बननी मुश्किल नजर आ रही है. पेच यहीं फंसा है कि इस कुल लागत के कितना भाग का सियोल भुगतान करेगा. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दृढ़ता से कहा है कि दक्षिण कोरिया और जापान जैसे प्रमुख देशों में सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए वाशिंगटन द्वारा किया जाने वाला खर्च बहुत अधिक है. हाल में पांच वर्षीय समझौते के मुताबिक, 1990 के दशक में सियोल ने छोटी राशि का भुगतान करना शुरू कर दिया था और 2018 में 86.5 करोड़ डॉलर का भुगतान कर चुका है. यह वार्ता अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस के दक्षिण कोरिया पहुंचने के कुछ देर बाद शुरू हुई.
तुर्की के राष्ट्रपति चुनावों में राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन ने जीत हासिल की
25 Jun 2018
नई दिल्ली: तुर्की के राष्ट्रपति चुनावों में राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन ने जीत हासिल कर ली है. मतगणना को लेकर विपक्ष शिकायत कर रहा है लेकिन इसके साथ ही सत्ता पर एर्दोआन की पकड़ मजबूत हो गई है. गौरतलब है कि 15 वर्ष से वे ही सत्ता पर काबिज हैं. तुर्की के मतदाताओं ने पहली बार राष्ट्रपति और संसदीय चुनाव में मतदान किया है. एर्दोआन अपनी सत्तारूढ़ जस्टिस ऐंड डेवलपमेंट पार्टी के लिए पूर्ण बहुमत की उम्मीए लगाए बैठे थे. अप्रैल 2017 में हुए जनमत संग्रह में नए संविधान पर सहमति बनी थी. इसके तहत एर्दोआन ऐसे पहले राष्ट्रपति होंगे जो बिना किसी प्रधानमंत्री के अत्यधिक अधिकार रखेंगे. इसका एर्दोआन ने मजबूती से समर्थन किया था लेकिन विरोधियों का कहना है कि इससे राष्ट्रपति को निरंकुश शक्तियां मिलेंगी. शीर्ष चुनाव समिति (वायएसके) के प्रमुख सैदी गुवेन ने बताया कि एर्दोआन ने अपने करीबी प्रतिद्वंद्वी मुहर्रम इन्स को ‘‘पूर्ण बहुमत’’ से हराया. पहले ही चरण में उन्हें आधे से अधिक मत मिल चुके थे जिसके चलते दूसरे चरण की जरूरत ही नहीं पड़ी. इस्तांबुल के अपने आवास से विजयी संदेश में एर्दोआन ने कहा, ‘‘ मुझ पर देश ने भरोसा जताते हुए राष्ट्रपति पद का कार्य और कर्तव्य सौंपे हैं.’’
ट्रंप ने उ.कोरिया के खिलाफ नेशनल इमरजेंसी एक और साल के लिए बढ़ाई
23 Jun 2018
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया के खिलाफ राष्ट्रीय आपात (नेशनल इमरजेंसी) की अवधि एक और साल के लिए बढ़ा दी है. उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया अब भी अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा , विदेश नीति और अर्थव्यवस्था के लिए असामान्य और असाधारण खतरा पेश करता है. ट्रंप की यह टिप्पणी तब आई है जब एक पखवाड़े से भी कम समय पहले उन्होंने सिंगापुर में किम जोंग उन के साथ ऐतिहासिक शिखर वार्ता की जिसमें उत्तर कोरियाई नेता परमाणु निरस्त्रीरकण के लिए राजी हुए. अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि जब तक परमाणु निरस्त्रीकरण पूरा नहीं होता तब तक वह अधिकतम दबाव बनाने का अभियान जारी रखेंगे और उत्तर कोरिया के खिलाफ कोई भी प्रतिबंध नहीं हटाएंगे. गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सीमा पर प्रवासी परिवारों को अलग करने पर रोक लगाने वाले एक आदेश पर हस्ताक्षर कर दिए हैं. खास बात यह है कि प्रवासी परिवारों को अलग करने के विवादित फैसले की दुनियाभर में आलोचना की गई थी. ट्रंप ने हस्ताक्षर के बाद कहा कि यह आदेश परिवारों को एक साथ रखने के बारे में है. मुझे परिवारों के बिछड़ने का दृश्य अच्छा नहीं लगता. गौरतलब है कि गैरकानूनी प्रवास को रोकने के मद्देनजर की गई कार्रवाई की वजह से अमेरिका में करीब दो बजार बच्चे अपने अभिभावक से बिछड़ गए थे.इन बच्चों को एक जगह रखा गया है जहां से बच्चों के रोने और अपनों याद करने की तस्वीरे इंटरनेट पर वायरल हो रही थी. बच्चों की इस स्थिति का पूरे विश्व ने विरोध किया था. इसी दौरान अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर विपक्ष ने भी दबाव बनाना शुरू किया था. विपक्ष द्वारा इस मसले को हल करने की बात करने बाद राष्ट्रपति ने इस पूरे मामले को अपने स्तर से हर करने का भरोसा दिया था. बुधवार को अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा था कि हम किसी भी परिवार को अलग करना नहीं चाहते और न ही मुझे यह अच्छा लगता है
बम की धमकी पर लंदन का चेयरिंग क्रॉस रेलवे स्टेशन कराया गया खाली
22 Jun 2018
लंदन के चेयरिंग क्रॉस रेलवे स्टेशन में व्यस्त समय में एक व्यक्ति रेल की पटरियों पर कूद गया और दावा करने लगा कि उसके पास बम है. इसके बाद रेलवे स्टेशन खाली कराया गया. बीबीसी की खबर के मुताबिक पटरियों पर कूदे व्यक्ति से निपटने के लिए सशस्त्र पुलिस को बुलाया गया. प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि स्टेशन पर पुलिस के कई वाहन खड़े थे. स्कॉटलैंड यार्ड पुलिस ने कहा,"शख्स की संदिग्ध हरकतों की रिपोर्ट के बाद अधिकारी फिलहाल चेयरिंग क्रॉस ट्रेन स्टेशन पर ब्रिटिश परिवहन पुलिस की सहायता कर रहे हैं. स्टेशन को सावधानी पूर्ण खाली करा लिया गया और यह फिलहाल बंद है." टेलीग्राफ की खबर के मुताबिक यात्रियों से कहा गया कि वे यहां से चले जाएं क्योंकि स्टेशन को खाली कराया जा रहा है. ब्रिटिश ट्रांसपोर्ट पुलिस ने बताया, ‘‘ चेयरिंग क्रॉस स्टेशन पर हम एक ऐसी घटना से निपट रहे हैं जिसमें खबर के मुताबिक एक व्यक्ति पटरियों पर कूद गया. वह व्यक्ति दावा कर रहा था कि उसके पास बम है.’' रिपोर्ट के मुताबिक अधिकारियों ने उस व्यक्ति को पकड़ लिया गया है.
भारत की आपत्तियों के बावजूद OBOR से जुड़ा नेपाल
21 Jun 2018
बीजिंग। दुर्गम भौगोलिक स्थितियों वाले नेपाल में चीन बुनियादी सुविधाएं (सड़क, रेल) विकसित करने, व्यापार और निवेश के लिए तैयार है। यह कार्य चीन की महात्वाकांक्षी वन बेल्ट-वन रोड (ओबीओआर) परियोजना के तहत होगा। चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने यह आश्वासन नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को दिया है। ओली इन दिनों चीन की यात्रा पर हैं। हालांकि ओबीओआर पर भारत की आपत्ति को ध्यान में रखते हुए नेपाल ने परियोजना से जुड़ने की औपचारिक घोषणा से परहेज किया है। नेपाल के विदेश मंत्रालय के अनुसार दोनों देशों के बीच 70 करोड़ डॉलर (4,765 करोड़ रुपये) के आठ महत्वपूर्ण समझौतों पर दस्तखत हुए हैं। ये समझौते बुनियादी परियोजनाओं और कारखानों की स्थापना से संबंधित हैं। इनमें चीन और नेपाल को रेल और सड़क मार्ग से जोड़ने की परियोजनाएं शामिल हैं। इसके अतिरिक्त नेपाल के भीतर भी बुनियादी ढांचा विकसित करने की परियोजनाएं हैं। पनबिजली परियोजना स्थापित होगी, सीमेंट का कारखाना लगेगा और फूड पार्क की स्थापना होगी। राष्ट्रपति शी ने नेपाल में राजनीतिक स्थिरता लाने और आर्थिक तरक्की की इच्छा जताने के लिए प्रधानमंत्री ओली को बधाई दी। आश्वासन दिया कि नेपाल के विकास में चीन पूरा सहयोग देगा। उल्लेखनीय है कि नेपाल में बुनियादी सुविधाओं के विकास में चीन पिछले कई वर्षों से निवेश कर रहा है। चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने राष्ट्रपति शी के हवाले से बताया है कि ओबीओआर प्रोजेक्ट के तहत चीन नेपाल में बुनियादी ढांचे के विकास, भूकंप से हुए नुकसान की भरपाई करने, व्यापार और निवेश के लिए तैयार है। शी ने यह भी आश्वासन दिया है कि वह नेपाल की राष्ट्र के रूप में संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता को भी कायम रखेगा। शी ने "वन चाइना" पॉलिसी का सम्मान करने और नेपाल में चीन विरोधी गतिविधियों को पनपने न देने के लिए भी प्रधानमंत्री ओली से आभार जताया।
भारत से 7000 से अधिक लोगों ने पिछले साल अमेरिका में शरण के लिए अर्जी दी : संयुक्त राष्ट्र
20 Jun 2018
संयुक्त राष्ट्र: संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी मामलों की एजेंसी की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत के 7000 से अधिक लोगों ने पिछले साल अमेरिका में शरण के लिए आवेदन दाखिल किया था. संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी के अनुसार 2017 में शरण लेने के नये आवेदन सबसे ज्यादा अमेरिका में आये. एजेंसी ने अपनी सालाना ग्लोबल ट्रेंड्स रिपोर्ट में कहा कि 2017 के अंत तक दुनियाभर में 6.85 करोड़ लोग विस्थापित हुए थे. युद्धों , अन्य तरह की हिंसा और उत्पीड़न की वजह से दुनियाभर में विस्थापन की दर नयी ऊंचाई पर पहुंच गयी है और लगातार पांचवें साल 2017 में यह अत्यधिक दर्ज किया गया. इसमें कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य का संकट, दक्षिण सूडान का युद्ध और म्यामां से हजारों रोहिंग्या शरणार्थियों के बांग्लादेश आने जैसे कारण शामिल हैं. रिपोर्ट के अनुसार विस्थापन से सबसे ज्यादा प्रभावित विकासशील देश हैं. रिपोर्ट के अनुसार 2017 के आखिर में भारत में 1,97,146 शरणार्थी थे और 10,519 लोगों के शरण के मामले लंबित थे. पिछले साल के आखिर तक भारत से शरण मांगने वालों के करीब 40,391 मामले थे. इसमें कहा गया है कि शरण मांगने वालों की सर्वाधिक संख्या अफगान नागरिकों की थी जिन्होंने 80 विभिन्न देशों में 1,24,900 आवेदन दाखिल किये.
चीन दौरे पर पहुंचे नॉर्थ कोरियाई तानाशाह किम जोंग उन, सत्ता संभालने के बाद तीसरा दौरा
19 Jun 2018
बीजिंग। उत्तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग उन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मिलने के बाद अब मंगलवार को चीन पहुंचे। किम दो दिन के दौरे पर बीजिंग पहुंचे हैं और 2011 में सत्ता संभालने के बाद यह उनका तीसरा चीन दौरा है। अपने इस दौरे पर वो राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुलाकात करेंगे। इस दौरान दोनों के बीच कई अहम मुद्दों पर बात होगी। पिछले हफ्ते किम ने डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात की थी। ऐसी संभावना जताई जा रही है कि किम अमेरिकी राष्ट्रपति से हुई चर्चा के विषय में चिनफिंग को बताएंगे। बीजिंग एयरपोर्ट पर मंगलवार सुबह सुरक्षा व्‍यवस्‍था कड़ी कर दी गयी थी। साथ ही पैरामिलिट्री पुलिस ने वहां पत्रकारों को तस्‍वीरें लेने पर रोक लगा दिया। डियाओयूटाई स्‍टेट गेस्‍ट हाउस के करीब सड़क को भी मंगलवार सुबह से ही बंद कर दिया गया जहां आने वाले नेता से वरिष्‍ठ चीनी अधिकारियों की मुलाकात होनी थी। पुलिस की गाड़ियां समेत अन्‍य कारों का घेरा गेस्‍ट हाउस के चारों ओर तैनात किए गए जहां इस साल के शुरुआत में किम रुके थे। चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ ने किम के दौरे की जानकारी उस वक्त दी, जब उनका विमान बीजिंग पहुंचने वाला था। शिन्हुआ के मुताबिक, 'किम जोंग उन 19 और 20 जून को बीजिंग दौरे पर रहेंगे।' किम मंगलवार सुबह हवाई जहाज से बीजिंग पहुंचे। यहां से कार से राष्ट्रपति भवन पहुंचे। उनकी कार को बाइक पर सवार सुरक्षाकर्मियों ने घेर रखा था। किम पहली बार मार्च में ट्रेन से चीन पहुंचे थे। उनका दूसरा दौरा मई की शुरुआत में हुआ था। मार्च में आए थे तो उनका दौरा काफी गोपनीय रखा गया था। यहां तक कि बीजिंग से उनके रवाना होने तक इसकी जानकारी नहीं दी गई थी। कोरियाई युद्ध के बाद से ही दक्षिण कोरिया में अमेरिका ने सैनिकों को तैनात कर दिया है। 1953 में खत्‍म हुए इस युद्ध में चीन ने उत्‍तर कोरिया का साथ दिया था।
वार्ता विफल होने पर ट्रंप ने द.कोरिया के साथ युद्धाभ्यास दोबारा शुरू करने की धमकी दी
18 Jun 2018
वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दक्षिण कोरिया के साथ सैन्य अभ्यास रोकने के अपने फैसले का बचाव किया. उन्होंने कहा कि इस तरह के युद्धाभ्यास भड़काऊ और महंगे हैं. हालांकि, उन्होंने धमकी दी कि अगर उत्तर कोरिया के साथ बातचीत विफल होती है तो वह फिर से उसे शुरू करेंगे. ट्रंप ने एक के बाद एक करके किये गए ट्वीट में कहा कि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के साथ शिखर वार्ता के दौरान युद्धाभ्यास रोकने का उनका विचार था उन्होंने कहा, ‘‘ युद्धाभ्यास को रोकने का अनुरोध बातचीत के दौरान मैंने किया था क्योंकि वे काफी खर्चीले हैं और नेकनीयत से चल रही वार्ता के दौरान खराब मिसाल प्रस्तुत करते हैं. ये काफी भड़काऊ भी हैं ट्रंप ने कहा, ‘‘ अगर वार्ता विफल होती है तो उसे तुरंत शुरू कर सकते हैं. मुझे उम्मीद है कि वैसा नहीं होगा.
मिस्र की अदालत ने प्रतिबंधित मुस्लिम ब्रदरहुड के 11 सदस्यों को सुनाई मृत्युदंड की सजा
15 Jun 2018
नई दिल्ली: मिस्र की अदालत ने प्रतिबंधित मुस्लिम ब्रदरहुड के 11 सदस्यों को मृत्युदंड की सजा दी है. पुलिसकर्मियों की हत्या और उन्हें घायल करने के दोषी ठहराए जाने पर यह सजा सुनाई गई है. यह मामला अगस्त 2013 है, जब दोषियों ने घात लगाकर पुलिस के वाहन पर हमला किया और अंधाधुंध गोलीबारी की थी. एक अन्य मामले में शारकिया की जगाजिग आपराधिक अदालत ने मुस्लिम ब्रदरहुड के पांच वफादारों को 25 साल कैद की सजा सुनाई है, जो मिस्र में आजीवन कारावास के समान है. मिस्र में 2012 में पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद मुर्सी के तख्तापलट के बाद से सुरक्षाबलों पर हमले बढ़े हैं.
संयुक्त राष्ट्र में 120 देशों ने गाजा हिंसा पर इस्राइल की निंदा की
14 Jun 2018
संयुक्त राष्ट्र: संयुक्त राष्ट्र महासभा ने गाजा में फलस्तीनियों की मौत के लिए इस्राइल की निंदा करने वाले अरब समर्थित प्रस्ताव को भारी बहुमत से स्वीकार किया. इस प्रस्ताव के जरिए हिंसा की जिम्मेदारी हमास पर डालने की अमेरिका की कोशिश भी नाकाम हो गई. मार्च के अंत में गाजा से लगती सरहद के पास शुरू हुए प्रदर्शनों में इस्राइली गोलीबारी में कम से कम 129 फलस्तीनियों की मौत हुई है जबकि इसमें किसी इस्राइली की मौत नहीं हुई. यह प्रस्ताव अल्जीरिया और तुर्की ने अरब तथा मुस्लिम देशों की ओर से रखा था और 193 सदस्यों वाली महासभा में इसे 120 वोट मिले, जबकि आठ सदस्यों ने प्रस्ताव के खिलाफ मतदान किया. वहीं 45 सदस्यों ने मतदान में हिस्सा नहीं लिया. अमेरिका ने गाजा के साथ लगती सीमा पर ‘हिंसा भड़काने’ के लिए हमास की निंदा करने के लिए एक संशोधन प्रस्ताव पेश किया, लेकिन यह दो तिहाई बहुमत हासिल नहीं कर पाया जो इसे स्वीकार करने के लिए जरूरी था. महासभा को संबोधित करते हुए अमेरिका की राजदूत निक्की हेली ने प्रस्ताव को पक्षपात पूर्ण और इस्राइल के खिलाफ बताकर खारिज कर दिया और अरब देशों पर आरोप लगाया कि वे संयुक्त राष्ट्र में इस्राइल की निंदा करके अपने देशों में राजनीतिक हित साधने की कोशिश कर रहे हैं.
किम जोंग उन ने स्वीकारा ट्रंप का अमेरिका आने का न्योताः उत्तर कोरिया
13 Jun 2018
प्योंगयोग। सिंगापुर में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग उन की मुलाकात सफल रही। इस दौरान ट्रंप ने किम को अमेरिका आने का न्योता दिया था जिसे किम ने स्वीकार कर लिया है। इसकी पुष्टि करते हुए उत्तर कोरिया के सरकारी मीडिया ने कहा है कि किम जोंग उन ने राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा दिया वाशिंगटन आने का न्योता स्वीकार कर लिया है। वहीं उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपति को भी प्योंगयोंग आने का न्योता दिया था। सरकारी मीडिया ने यह बयान ट्रंप के उस बयान के बाद जारी किया है जो उन्होंने सिंगापुर समिट के दौरान दिया था। उन्होंने कहा था कि उचित समय पर वो प्योंगयोंग जाएंगे साथ ही वो उत्तर कोरियाई नेता का वाशिंगटन में स्वागत करने का इंतजार करेंगे। दोनों ने ही एक-दूसरे के न्योते स्वीकार किए और माना कि इससे दोनों देशों के रिश्ते और बेहतर होंगे।
उत्तर कोरिया परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए राज़ी, ट्रंप बोले- किम बहुत टैलेंटेड इंसान
12 Jun 2018
नई दिल्ली: उत्तर कोरिया पूर्ण निरस्त्रीकरण के लिए राज़ी है. दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंध कायम होंगे. अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप और उत्‍तर कोरिया के शासक किम जोंग उन के बीच 50 मिनट तक बातचीत हुई. इस बैठक में उम्मीद से बेहतर नतीजे आए और दोनों देशों ने व्यापक दस्तावेज़ पर दस्तखत किए. सिंगापुर में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई राष्ट्रपति किम जोंग उन की ऐतिहासिक मुलाक़ात के बाद दोनों देशों के बीच कई समझौतों पर हस्ताक्षर हुए. किम जोंग उन ने इस मुलाक़ात को ऐतिहासिक बताते हुए कहा कि हम अतीत को भूल कर आगे बढ़ेंगे. ख़ुशी है हम बाधाओं को पार कर मिले. अब दुनिया एक बड़ा बदलाव देखेगी. वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने इस मुलाक़ात को उम्मीद से ज़्यादा बेहतर बताया. उन्‍होंने कहा कि हम मिलकर एक बड़ी समस्या का समाधान करेंगे. हमारे बीच परमाणु निरस्त्रीकरण पर बातचीत हुई. ट्रंप ने उम्मीद जताया कि अमेरिका और उत्तर कोरिया के रिश्ते बेहतर होंगे. ट्रंप ने कहा कि आज मुझे पता चला कि किम बहुत टैलेंटेड इंसान हैं. इससे पहले दोनों नेताओं के बीच सिंगापुर के सैंटोसा आइलैंड के कैपेला रिसॉर्ट में क़रीब 50 मिनट की मुलाक़ात हुई. ट्रंप बोले-किम को देंगे व्‍हाइट हाउस का न्‍योता और फिर मिलेंगे दोनों देशों के बीच डेलिगेशन लेवल की बैठक भी हुई फिर दोनों नेताओं ने साथ लंच किया. किम को व्हाइट हाउस आने का न्योता देने के सवाल पर ट्रंप ने कहा, बेशक हम उन्हें न्योता देंगे. हम फिर मिलेंगे और कई बार मिलेंगे. जब दोनों नेता आज मिले तो दोनों ने गर्मजोशी से एक दूसरे से हाथ मिलाया. फिर साथ-साथ होटल के अंदर गए. ऐतिहासिक बैठक के बाद संयुक्त बयान पर हस्ताक्षर किए. द स्ट्रेट्स टाइम्स ने ट्रंप के हवाले से कहा, 'हम बहुत ही महत्वपूर्ण दस्तावेज पर हस्ताक्षर कर रहे हैं, यह समग्र दस्तावेज है और हमने साथ में बेहतरीन समय बिताया. एक बेहतरीन संबंध. संवाददाता सम्मेलन में जल्द ही इस चर्चा होगी.' ट्रंप ने कहा, 'हमने विशेष बॉन्ड विकसित किया है. यह बैठक किसी के भी अनुमान से बहुत बेहतर रही.' इसके जवाब में किम जोंग ने कहा, 'दुनिया एक बड़ा बदलाव देगी.' किम जोंग और ट्रंप यह ऐतिहासिक बैठक करने वाले अपने देशों के पहले नेता बन गए हैं. दोनों नेताओं ने सेंटोसा द्वीप के कैपेला होटल में मुलाकात की.
जी7 के संयुक्त बयान से डोनाल्ड ट्रंप के खुद किया अलग, जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने कहा- निराशाजनक
11 Jun 2018
जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने जी7 देशों के सम्मेलन के संयुक्त बयान से अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के खुद को अलग रखने के फैसले को निराशाजनक बताया है. मर्केल ने स्थानीय मीडिया को बताया, "हमने प्रमुख मुद्दों पर गंभीरता से बात की. हमारे बीच सहमति बनी और फिर राष्ट्रपति ट्रंप ने जिस तरह से एक ट्वीट के जरिए अपना सहयोग वापस ले लिया, वह बेहद निराशाजनक रहा.' मर्केल ने कहा कि यूरोप को अपना भाग्य अपने हाथ में लेना पड़ेगा. अमेरिका के साथ मौजूदा व्यापार विवाद पर मर्केल ने यूरोपीय देशों से एकजुट बने रहने और अपने प्रयासों को जारी रखने का आह्वान किया. गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को कहा कि उन्होंने अमेरिकी प्रतिनिधियों को यहां जी-7 सम्मेलन के अंत में जारी संयुक्त बयान की पुष्टि नहीं करने का निर्देश दिया है. जी-7 सम्मेलन में शामिल होने के बाद रवाना होने से कुछ ही देर में एयर फोर्स वन विमान में सवार ट्रंप ने ट्वीट किया, "जस्टिन (कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन टड्रो) द्वारा अपने संवाददाता सम्मेलन में झूठे बयान के और इस तथ्य के आधार पर कि कनाडा हमारे अमेरिकी किसानों, श्रमिकों और कंपनियों पर बड़े पैमाने पर सीमा शुल्क लगा रहा है, मैंने अपने अमेरिकी प्रतिनिधियों को (जी-7 के) बयान की तसदीक नहीं करने के निर्देश दिए हैं क्योंकि हम अमेरिकी बाजार में ऑटोमोबाइल की बाढ़ पर सीमा शुल्क को देख रहे हैं!
अगर सिंगापुर वार्ता अच्छी रही तो किम जोंग उन को अमेरिका आने के लिए आमंत्रित करूंगा : डोनाल्ड ट्रंप
8 Jun 2018
वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि यदि सिंगापुर वार्ता सफल रहती है तो वह किम जोंग उन को अमेरिका आने का न्यौता देंगे. डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस में जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा, "हो सकता है कि अगली मुलाकात व्हाइट हाउस में हो." पत्रकारों की ओर से सवाल पूछे जाने के बाद उन्होंने यह बात कही. उन्होंने कहा, "यदि सब कुछ ठीक रहता है तो मुझे लगता है कि मैं उन्हें अमेरिका आने का निमंत्रण दूंगा. मुझे लगता है कि वह भी इसके पक्ष में होंगे." ट्रंप ने किम जोंग उन के साथ आगामी बैठक के बारे में कहा, "मुझे लगता है कि यह बैठक सफल होने जा रही है. मुझे नहीं लगता है कि यह सिर्फ एक बैठक तक ही सीमित रहेगी. यह कई दशकों तक चलने वाला है." अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पुष्टि की कि वह 12 जून को सिंगापुर में ऐतिहासिक शिखर सम्मेलन के दौरान उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन से मिलेंगे. डोनाल्ड ट्रंप की ओर से यह घोषणा उत्तरी कोरिया के दूतावास अधिकारी किम योंग चोल के साथ व्हाइट हाउस के ओवल कार्यालय में दो घंटे की बैठक के बाद आई है.
कैलिफोर्निया में दो भारतीय-अमेरिकी ने कांग्रेस के प्राइमरी चुनाव में जीत दर्ज की
7 Jun 2018
वाशिंगटन: भारतीय अमेरिकी कांग्रेस सदस्यों ऐमी बेरा और रो खन्ना ने गुरुवार को कैलिफोर्निया में अपने अपने प्राइमरी चुनाव जीत लिए और अब वे छह नवंबर को कांग्रेस का चुनाव लड़ेंगे. न्यूजर्सी में कांग्रेस के लिए प्राइमरी चुनाव लड़ रहे तीन दूसरे भारतीय-अमेरिकी - हिर्ष सिंह , गौतम जायस एवं पीटर जैकब हार गए. न्यूजर्सी में भारतीय अमेरिकी समुदाय की खासी आबादी है. कैलिफोर्निया के सातवें संसदीय जिले से तीन बार कांग्रेस का चुनाव जीत चुके, बेरा को ओपन प्राइमरी में 51 प्रतिशत से ज्यादा वोट मिले. रिपब्लिकन पार्टी के उनके नजदीकी प्रतिद्वंद्वी एंड्रयू ग्रांट को 32.9 प्रतिशत वोट मिले. कैलिफोर्निया में प्राइमरी के दो शीर्ष उम्मीदवार प्रतिनिधि सभा के लिए आम चुनाव लड़ते हैं 2017 में पहली बार प्रतिनिधि सभा में प्रवेश करने वाले खन्ना ने कैलिफोर्निया के 17 वें संसदीय जिले से ओपन प्राइमरी के चुनाव में 58.9 प्रतिशत वोट हासिल कर जीत हासिल की. रिपब्लिकन पार्टी के उनके नजदीकी प्रतिद्वंद्वी रो कोहेन को करीब 25 प्रतिशत वोट मिले. डेमोक्रेटिक पार्टी के दोनों नेताओं (बेरा एवं खन्ना) के नवंबर में होने वाले कांग्रेस का चुनाव जीतने के आसार हैं
फैशन डिजाइनर केट स्पेड की मौत, न्यूयॉर्क पुलिस ने आत्महत्या की पुष्टि की
6 Jun 2018
न्यूयॉर्क: अमेरिका की जानीमानी फैशन डिजाइनर केट स्पेड मंगलवार को न्यूयॉर्क में मृत अवस्था में मिली. न्यूयॉर्क पुलिस ने आत्महत्या की पुष्टि की है. पुलिस की एक प्रवक्ता ने आत्महत्या की पुष्टि की है लेकिन यह भी कहा कि मौत की परिस्थितियां अभी स्पष्ट नहीं हैं स्पेड ने अपना शुरुआती करियर एक पत्रकार के रूप में शुरू किया था. बाद में वह अपने पति एंडी के साथ ‘एपानमस’ फैशन ब्रांड की शुरुआत करके 1993 में फैशन उद्योग में आ गई केट स्पेड ने हैंडबैग कारोबार में भी अपना सिक्‍का जमाया था, लेकिन बाद में उन्‍होंने इसे बेच दिया था.
ग्वाटेमाला में ज्वालामुखी फटने से मरने वालों की संख्या 65 हुई, 17 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित
5 Jun 2018
अल्टेनेंगो (ग्वाटेमाला) : ग्वाटेमाला में ‘वोल्कन डे फुगो’ ज्वालामुखी में भयानक विस्फोट होने के बाद मलबे से आज और शव निकाले गए.इस आपदा में मरने वालों की संख्या 65 पर पहुंच गई है.आपदा राहत एजेंसी के प्रवक्ता डेविड डी लिओन ने एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि पीड़ितों की तलाश के कुछ घंटों बाद मृतकों की संख्या बढ़कर कम से कम 65 हो गई.घटना में 46 लोग घायल हो गए हैं जिनमें से ज्यादातर लोगों की हालत गंभीर है. इस आपदा से 17 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और 3,271 लोगों को सुरक्षित जगहों पर जाने को कहा गया है. रविवार को 3,763 मीटर ऊंचे ज्वालामुखी में विस्फोट हो गया जिससे आसपास के इलाकों में राख के बादल छा गये.अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि पर्वत के दक्षिण छोर पर समुदायों में पीड़ितों की तलाश फिर से शुरू होने के बाद मृतकों की संख्या बढ़ सकती है. ग्वाटेमाला की आपदा प्रबंधन एजेंसी के सर्गियो कबानास ने कहा,‘‘ कई लोग लापता है लेकिन हमें यह नहीं पता कि कितने लोग लापता हैं’. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा कि वह विस्फोट में लोगों की मौत और बड़े नुकसान से बहुत दुखी हैं. उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र राष्ट्रीय बचाव एवं राहत प्रयासों में मदद करने के लिए तैयार है. गौरतलब है कि ग्वाटेमाला के सबसे सक्रिय ज्वालामुखी ‘वोल्कन डे फुगो’ में हुए विस्फोट से निकली राख के कारण हवाईअड्डे को बंद करना पड़ा है.देश की आपदा प्रबंधन एजेंसी नेशनल कॉर्डिनेटर फॉर डिजास्टर रिडक्शन के प्रवक्ता ने एक व्हाट्सएप ग्रुप में कहा,‘रात नौ बजे तक मृतकों की संख्या 25 थी’.प्रवक्ता ने कहा कि लापता और मृतकों के लिए खोज एवं बचाव अभियान कम रोशनी और खतरनाक स्थितियों के कारण रद्द कर दिया गया है.अब मृतकों की संख्या बढ़ गई है.ज्वालामुखी फटने से आसपास के इलाके में आसमान में राख फैल गई.इससे पहले आपदा प्रबंधन एजेंसी के प्रमुख सर्गियो कबानास और राष्ट्रपति जिम्मी मोराल्स ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि घटना में सात लोगों की मौत हो गई, 20 घायल हो गए और 17 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए.मोराल्स ने घटना से सबसे अधिक प्रभावित एस्क्युन्टिला, चिमाल्टेनांगो और सैकेटेपेक्वेज के लिए रेड अलर्ट की घोषणा की है.राष्ट्रपति जिम्मी मोराल्स ने कहा कि वह और उनकी सरकार इलाकों में आपातकाल की स्थिति की घोषणा करने के बारे में कांग्रेस से बात करेगी. साथ ही उन्होंने लोगों से शांत रहने की अपील की.मोराल्स ने कहा कि आपात अभियानों में मदद करने के लिए पुलिस, रेड क्रॉस और सेना के हजारों कर्मियों को भेजा गया है.
पाक और चीन को दिए लोन पर PM मोदी की टिप्‍पणी की US के रक्षामंत्री ने की तारीफ
4 Jun 2018
वाशिंगटन : अमेरिका के रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस ने बड़े कर्जों के बारे में बोलने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने उन कर्जों को स्वीकृति देने के खतरे के बारे में एक अच्छा पहलू उठाया है जो ‘वास्तव में दिखने में बहुत अच्छे होते हैं.’ मैटिस ने शनिवार को सिंगापुर में शांग्री-ला वार्ता से इतर मोदी से मुलाकात की थी. मोदी ने इस वार्षिक शिखर वार्ता को संबोधित किया था. अमेरिकी रक्षा मंत्री ने कहा, ‘मुझे भारत (मोदी) का वह भाषण याद है. ऐसा लग रहा था जैसे मैं पुराने समय के व्यक्ति को सुन रहा हूं. मुझे लगा वह बहुत महान हैं. मुझे बड़े कर्ज के बारे में उनकी बात अच्छी लगी.’ उन्होंने कहा, ‘बड़ा कर्ज ... और मैं अपने कमरे में वापस जाने के बाद रात में उसके बारे में सोच रहा था कि आप बेनेट वाली राइफल से लैस एक सैनिक की तुलना में कर्ज से अपनी संप्रभुत्ता और आजादी ज्यादा गंवा सकते हैं. आप आर्थिक रूप से इसे गंवा सकते हैं.’ गौरतलब है कि मोदी ने उन सरकारों की आलोचना की थी जो दूसरे देशों को ऐसे कर्ज के बोझ तले दबा देते हैं जिन्हें चुका पाना असंभव होता है. इसके लिए उन्होंने विवादित दक्षिण चीन सागर में चीन के व्यवहार और उसकी बेल्ट एंड रोड पहल जैसी ढांचागत परियोजनाओं का जिक्र किया जिसमें दूसरे देशों को कर्ज देना शामिल है. खबरों के अनुसार , चीन ने श्रीलंका और पाकिस्तान जैसे देशों को बड़ा कर्ज दिया है जो उन पर बोझ बन गया है. इस बीच, पेंटागन के प्रवक्ता कैप्टन जेफ डेविस ने कल कहा कि भारत और अमेरिका ने मजबूत द्विपक्षीय रणनीतिक साझेदारी पर बातचीत की और क्षेत्र में शांति, स्थिरता एवं समृद्धि कायम करने की दिशा में अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि की.
राजद्रोह के मामले में मुशर्रफ पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार, पासपोर्ट निलंबित करने के आदेश
1 Jun 2018
इस्लामाबाद: पाकिस्तान के आंतरिक मंत्रालय ने पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के कंप्यूटराइज्ड राष्ट्रीय पहचान पत्र (सीएनआईसी) और पासपोर्ट को निलंबित करने को कहा है. डॉन के मुताबिक, विशेष अदालत के आदेश का पालन करते हुए मंत्रालय ने राष्ट्रीय डेटाबेस और पंजीकरण प्राधिकरण और अप्रवासन एवं पासपोर्ट महानिदेशालय को मुशर्रफ के पहचान पत्र और पासपोर्ट निलंबित करने के आदेश दिए. पहचान पत्र और पासपोर्ट निलंबित होने के बाद मुशर्रफ के बैंक खाते बंद हो जाएंगे और वह विदेश यात्रा नहीं कर सकेंगे. मुशर्रफ के खिलाफ राजद्रोह की सुनवाई करने वाली एक विशेष अदालत ने मंत्रालय को आठ मार्च को उनके पहचान पत्र और पासपोर्ट निलंबित कराने के आदेश दिए थे. अदालत ने मंत्रालय और अन्य विभागों व एजेंसियों को मुशर्रफ की गिरफ्तारी के लिए कदम उठाने और उनकी विदेशी संपत्तियों को जब्त करने के भी आदेश दिए थे. डॉन न्यूज के मुताबिक, पूर्व सैन्य शासक नवंबर 2007 में आपातकाल की घोषणा कर संविधान का उल्लंघन करने के आरोप में राजद्रोह के मुकदमे का सामना कर रहे हैं.
सिंगापुर में होटल के बाहर भारतीय समुदाय के लोगों से मिले पीएम नरेंद्र मोदी
31 May 2018
कुआलालंपुर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इंडोनेशिया दौरे के बाद गुरुवार को मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर पहुंचे, जहां पर उन्होंने मलेशिया के पीएम महातिर बिन मोहम्मद से मुलाकात की. इससे पहले गुरुवार की सुबह ही वह इससे जकार्ता एयरपोर्ट से मलेशिया के लिए रवाना हुए थे. तीन देशों की यात्रा के दौरान मलेशिया उनका दूसरा ठहराव है. कुआलालंपुर में पीएम मोदी की मुलाकात मलेशिया के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद से हुई. महातिर मोहम्मद (92) ने 10 मई को मलेशिया के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी. उन्होंने मलेशिया में 1957 से शासन कर रहे बारिसान नेशनल (बीएन) गठबंधन को चुनाव में परास्त करने वाले विपक्षी गठजोड़ का नेतृत्व किया था. बता दें कि इससे पहले इंडोनेशिया में पीएम मोदी और राष्ट्रपति विडोडो के बीच द्वपक्षीय वार्ता हुई और 15 समझौतों पर भी हस्ताक्षर हुए. सिंगापुर में होटल के बाहर भारतीय समुदाय के लोगों से मिले पीएम नरेंद्र मोदी - पीएम मोदी सिंगापुर पहुंच चुके हैं. -मलेशिया में कुछ घंटे बिताने के बाद अब पीएम मोदी मलेशिया के कुआलालंपुर एयरपोर्ट से सिंगापुर के लिए रवाना हो गये. मलेशियाई पीएम महातिर मोहम्मद और पीएम मोदी के बीच भारत और मलेशिया के बीच अर्थव्यवस्था और सांस्कृतिक संबंध को बढ़ावा देने के विकल्पों पर बातचीत हुई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुआलालंपुर में मलेशिया के उपप्रधानमंत्री वान अज़ीज़ा वान इस्माइल से मुलाकात की. कुआलालंपुर में मलेशियाई पीएम महातिर बिन मोहम्मद से मिले पीएम मोदी प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया कि 'प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कुआलालंपुर पहुंच गये हैं. वह मलेशिया के प्रधानमंत्री डॉक्टर महातिर बिन मोहम्मद से मिलेंगे और भारत - मलेशिया सहयोग से जुड़े विभिन्न पहलूओं पर चर्चा करेंगे. पीएम मोदी मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर पहुंच चुके हैं. वह मलेशियाई पीएम से आज मिलेंगे. बता दें कि उनकी इंडोनेशिया के बाद मलेशिया के पीएम से मिलने का उद्देश्य रक्षा और व्यापार सहित विभिन्न महत्वपूर्ण क्षेत्रों में उसके साथ भारत के रिश्तों को और अधिक मजबूत करना है. इससे पहले विदेश मंत्रालय ने कहा था कि पीएम मोदी मलेशिया के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री डॉ महातिर मोहम्मद से मिलने के लिए 31 मई को कुआलालंपुर में रुकेंगे.’ समझा जाता है कि मुलाकात के दौरान मोदी और महातिर व्यापार एवं निवेश सहित विभिन्न क्षेत्रों में द्विपक्षीय रिश्ते गहरे करने के उपायों पर विचार करेंगे. खास बात है कि पीएम मोदी की मलेशिया की यह दूसरी यात्रा है. इससे पहले वह 2015 में भी मलेशिया जा चुके हैं. विदेश मंत्रालय ने कहा ‘आसियान के तीन देश .. इंडोनेशिया , मलेशिया और सिंगापुर भारत के रणनीतिक भागीदार हैं. भारत सरकार आसियान क्षेत्र के साथ अपने संबंधों को बहुत महत्व देती है और आसियान के प्रत्येक सदस्य देश के साथ , सरकार की ‘ एक्ट ईस्ट पॉलिसी ’ के दायरे में अपने संबंधों को और अधिक मजबूत बनाने के लिए प्रतिबद्ध है.’
70 सालों में संयुक्त राष्ट्र के शांतिरक्षक अभियानों में सबसे ज्यादा भारतीय हुए शहीद
30 May 2018
संयुक्त राष्ट्र: संयुक्त राष्ट्र के पिछले 70 सालों के विभिन्न शांति रक्षक अभियानों में भारत के सबसे अधिक शांतिरक्षक शहीद हुये हैं. संयुक्त राष्ट्र के अभियानों में कर्तव्य निर्वहन के दौरान देश के 163 शांतिरक्षकों को सर्वोच्च बलिदान देना पड़ा.इनमें सेना, पुलिस और असैन्य कर्मचारी भी शामिल थे. संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक, 1948 से 3,737 शांतिरक्षकों की जान गयी है, जिसमें से 163 भारत के हैं. यह आंकड़ा किसी भी देश के मुकाबले अधिक है. इस समय भारत संयुक्त राष्ट्र के शांतिरक्षकों के मामले में योगदान करने वाला तीसरा सबसे बड़ा देश है.इस समय इसके 6,693 शांतिरक्षक अबेई , साइप्रस , कांगो , हैती , लेबनान , मध्य पूर्व , दक्षिण सूडान और पश्चिमी सहारा में तैनात हैं. हालांकि संयुक्त राष्ट्र ने जवानों , पुलिस इकाई गठित करने और दल के स्वामित्व वाले उपकरण के लिए 30 अप्रैल 2018 को नौ करोड़ 20 लाख अमेरिकी डॉलर का कर्ज दिया. संयुक्त राष्ट्र ने कल अंतरराष्ट्रीय शांतिरक्षक दिवस पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया और दुनिया भर के शांतिरक्षकों की सेवा और बलिदान के लिए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की. 2017 में संयुक्त राष्ट्र के किसी भी शांतिरक्षक अभियान में भारत के किसी भी शांतिरक्षक को जान नहीं गंवानी पड़ी. 2016 में दो शांतिरक्षक राइफलमैन बृजेश थापा और रवि कुमार को ड्यूटी के दौरान जान गंवानी पड़ी थी. थापा जहां यूएन आर्गेनाइजेशन स्टेबलाइजेशन मिशन इन द डेमोक्रेटिक रिपब्लिकन ऑफ द कांगो (एमओएनयूएससीओ) में तैनात थे वहीं रवि कुमार यूएन इंटरिम फोर्स इन लेबनान में तैनात थे. इन्हें मरणोपरांत डैग हैमरस्जोल्ड मेडल से सम्मानित किया गया था.
बंदरगाह शहर होदयदा की ओर धीरे-धीरे बढ़ रही है यमन सरकार की सेना
29 May 2018
सऊदी अरब के नेतृत्व वाले गठबंधन ने आज कहा कि यमन सरकार की सेना विद्रोहियों के कब्जे वाले अहम बंदरगाह शहर होदयदा की ओर बढ़ रही है और वह इस शहर से मात्र 20 किलोमीटर दूर है. सऊदी अरब और उसके सहयोगियों द्वारा वर्ष 2015 में सरकार की ओर से हस्तक्षेप किये जाने के बाद से लाल सागर का यह बंदरगाह यमन युद्ध में विवादों का केन्द्र रहा है. गठबंधन सेना के प्रवक्ता तुर्की अल - मलिकी ने रियाद में पत्रकारों से कहा, ‘‘ गठबंधन के समर्थन वाली यमन सेना होदयदा से करीब 20 किलोमीटर की दूरी पर है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ इसका मकसद शहर को वैध यमन सरकार के अधिकार क्षेत्र में वापस लाना है. अभियान चल रहा है.’ होदयदा मानवीय सहायता के लिए अहम बंदरगाह शहर है जिस पर लाखों लोग निर्भर करते हैं. लेकिन पड़ोसी देश सऊदी अरब इस शहर को विद्रोहियों के लिए हथियारों के प्रवेश द्वार के तौर पर देखता है. वह क्षेत्रीय प्रतिद्वंद्वी ईरान पर हथियारों की आपूर्ति करने का आरोप लगाता है.
ओमान में तूफान : 3 भारतीयों सहित 11 लोगों की मौत, 170 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चल रही हैं हवाएं
28 May 2018
नई दिल्ली: दक्षिणी ओमान और सोकोत्रा के यमनी द्वीप में आए मेकुनु तूफान में तीन भारतीयों समेत 11 लोगों की मौत हो गई. अधिकारियों और खबरों के हवाले से यह जानकारी सामने आई है. ओमान के धोफर और अल-वुस्ता प्रांतों में शुक्रवार को मेकुनु तूफान ने दस्तक दी. यह तूफान श्रेणी एक से परिवर्तित होकर श्रेणी दो के तूफान के रूप में यहां पहुंचा. गुरुवार को सोकोत्रा पहुंचने के बाद इसकी हवाएं करीब 170 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हैं. मस्कट में भारतीय दूतावास ने ट्वीट किया, “सलालाह में भारतीय दूतावास की टीम ने पुष्टि की है कि रॉयल ओमान पुलिस के मुताबिक शमशेर अली और दो लापता भारतीयों के शव बरामद कर लिए गए हैं और एक अन्य (मधु) की तलाश जारी है. अन्य किसी भी प्रवासी के हताहत होने की खबर नहीं है.” दूतावास के अधिकारियों ने सलालाह के ताकाह के एक शिविर का दौरा किया और 460 लोगों (145 भारतीयों और 315 बांग्लादेशियों) के लिए खाने का इंतजाम किया. ट्वीट में बताया गया , “ भारतीय दूतावास भारतीय नौकायन जहाज के चालक दल के 50 भारतीय सदस्यों का ख्याल रख रहा है.”
100 से ज्यादा प्रवासी और शरणार्थियों को मानव तस्करों ने मारी गोली, 15 की मौत
26 May 2018
नई दिल्ली: डॉक्टर्स विदआउट बॉडर्स ने आज बताया कि मानव तस्करों द्वारा बंदी बनाकर रखे गए 100 से ज्यादा प्रवासी और शरणार्थियों को उत्तर पश्चिम लीबिया की गुप्त जेल से भागने के दौरान गोली मार दी गई. इस घटना में दर्जनों लोग हताहत हुए हैं. अंतरराष्ट्रीय चिकित्सा संगठन ने कहा कि बुधवार रात हुई घटना में बचे लोगों ने बताया कि कम से कम 15 लोगों की मौत हुई है और तकरीबन 40 अन्य जख्मी हुए हैं. इनमें अधिकतर महिलाएं हैं. संगठन ने बताया कि बानी वलीद शहर में बचकर भागे लोगों को फिर से बंदी बनाने के लिए अपहरणकर्ता और बंदूकधारी उनका पीछा कर रहे थे. ऐसे में सुरक्षा बलों, अस्पताल और नगर निकाय के कर्मियों ने उन्हें बचाने की कोशिश की. उन्होंने बताया कि बचे हुए लोगों में अधिकतर इरिट्रिया , इथोपिया और सोमालिया के किशोर और किशोरी हैं जो यूरोप में शरण हासिल करने की कोशिश में थे. संगठन ने बताया कि कुछ लोगों ने बताया कि उन्हें तीन साल से बंदी बनाकर रखा गया था. कई लोगों के शरीर पर प्रताड़ित करने के निशान भी साफ नजर आ रहे थे.
कनाडा: भारतीय रेस्‍टोरेंट में हुए विस्फोट में 15 लोग घायल
25 May 2018
टोरंटो: कनाडा के ओंटारियो प्रांत में एक भारतीय रेस्‍टोरेंट में हुए शक्तिशली विस्फोट में कम से कम 15 लोग घायल हो गये. ‘सीबीसी न्यूज’ की रिपोर्ट के अनुसार विस्फोट में गंभीर रूप से घायल तीन लोगों को टोरंटो ट्रॉमा सेंटर भेजा गया है. पील पाराचिकित्सक ने बताया कि घटना गुरुवार को स्थानीय समयानुसार रात करीब 10.30 बजे ‘बॉम्बे भेल’ रेस्‍टोरेंट में हुई. यह रेस्‍टोरेंट हुरोंटारियो स्ट्रीट एवं एगलिंटन एवेन्यू ईस्ट के इलाके में स्थित है. रिपोर्ट के अनुसार पुलिस इसे ‘संदिग्ध’ घटना बता रही है. बहरहाल फिलहाल यह पता लगाया जा रहा है कि घटना के वक्त रेस्‍टोरेंट के अंदर कितने लोग मौजूद थे. रिपोर्ट के अनुसार रेस्‍टोरेंट को खाली करा लिया गया है और जांच होने तक प्लाजा को सील किये जाने की संभावना है.
चीन संग व्यापार समझौते से संतुष्ट नहीं : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप'
23 May 2018
वॉशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को कहा कि वह चीन के साथ हुई व्यापार वार्ताओं से संतुष्ट नहीं हैं. हालांकि इससे कुछ ही समय पहले अमेरिकी अधिकारियों ने चीन के साथ व्यापार से जुड़े तनाव को दूर करने के लिए एक समझौता किए जाने की घोषणा की थी. ट्रंप ने व्हाइट हाउस में दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जे इन का स्वागत करने के बाद संवाददाताओं से कहा, "चीन को इस समझौते में लाभ हुआ है." ट्रंप ने कहा, "मैं संतुष्ट नहीं हूं, लेकिन हमें एक लंबा रास्ता तय करना है." एफे की रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रंप ने कहा कि कि वह चाहते हैं कि अमेरिका और चीन के बीच ऐसा समझौता हो दोनों के लिए लाभप्रद हो. उन्होंने कहा कि हालांकि वे जानते हैं कि यह शायद संभव नहीं हो क्योंकि वॉशिंगटन का चीन के साथ व्यापार घाटा 500 अरब डॉलर प्रति वर्ष है और यह सबूत है कि चीन व्यापार के मामले में अमेरिका का नाजायज फायदा उठाता है.
अमेरिका ने संस्मरण सिक्का जारी कर उत्तर कोरिया के नेता किम को बताया 'सर्वोच्च नेता'
22 May 2018
नई दिल्ली: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के बीच 12 जून को होने वाली शिखर बैठक से पहले व्हाइट हाउस ने एक संस्मरण सिक्का जारी किया है. यह सिक्का व्हाइट हाउस कम्युनिकेशन एजेंसी ने कल जारी किया. इस सिक्के में उत्तर कोरिया के नेता किम को ‘ सर्वोच्च नेता ’ बताया गया है और शिखर बैठक को शांति वार्ता के तौर पर वर्णित किया गया है. ट्रंप और किम के बीच यह बैठक 12 जून को सिंगापुर में होनी है. गौरतलब है कि पिछले हफ्ते उत्तर कोरिया ने बैठक को रद्द करने की धमकी दी थी और आरोप लगाया था कि अमेरिका एकतरफा परमाणु हथियारों को छोड़ने की मांग कर रहा है. उत्तर कोरिया ने अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच सैन्य अभ्यास को लेकर भी कड़ी नाराजगी जताई थी. व्हाइट हाउस ने कहा है कि वह शिखर बैठक की तैयारियां कर रहा है.
क्यूबा विमान हादसा : विमान के पूर्व पायलट ने खोले कई अहम राज
21 May 2018
मैक्सिको सिटी: क्यूबा में 107 लोगों को ले जा रहा एक विमान हवाना हवाई अड्डे से उड़ान भरने के तुरंत बाद शुक्रवार को दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. इस विमान को कभी उड़ाने वाले मैक्सिको के एक पायलट ने शनिवार को कहा कि उसने पहले भी विमान के मालिक द्वारा कथित घटिया कामकाज को लेकर शिकायत की थी. दुर्घटना में 107 लोगों की मौत हो गई थी और तीन लोग बच गए थे जिनकी हालत नाजुक है. मार्को ऑरेलियो हर्नान्देज ने मैक्सिको के अखबार मिलेनियो को बताया कि विमान लीज पर देने वाली मैक्सिको की कंपनी ग्लोबल एयर विमानों की देखरेख में कोताही बरतती थी और इसे चिली में उड़ान भरने पर प्रतिबंध लगा हुआ था. इसने वेनेजुएला में रात के समय बिना रडार के उड़ान भरी थी उन्होंने कहा कि 2005 और 2013 के दौरान उन्होंने ग्लोबल एयर के सभी तीन बोइंग विमानों को उड़ाया था जिनमें से एक 39 वर्ष पुराना विमान शुक्रवार को हवाना के हवाई अड्डे से उड़ान भरने के बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया गौरतलब है कि विमान बोइंग 737 शुक्रवार सुबह हवाना के मुख्य हवाई अड्डे से बाहर निकलने के कुछ ही समय बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, इस दुर्घटना में 100 से ज्यादा लोग मारे गए हैं. घटना में तीन लोगों को ही मलबे से निकाला जा सका है जो गंभीर रूप से घायल हैं और जिनका अस्पताल में इलाज चल रहा है.
पक्यूबा: हवाना में बोइंग 737 विमान दुर्घटनाग्रस्त, 100 से अधिक लोगों की हुई मौत
19 May 2018
हवाना: हवाना के मुख्य हवाई अड्डे से बाहर निकलने के कुछ ही समय बाद शुक्रवार को बोइंग 737 विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया, इस दुर्घटना में 100 से ज्यादा लोग मारे गए हैं. घटना में अब तक तीन लोगों को ही मलबे से निकाला जा सका है जो गंभीर रूप से घायल हैं और जिनका अस्पताल में इलाज चल रहा है. 0 टिप्पणियां राज्य संचालित टीवी ने कहा, यह विमान एक घरेलू उड़ान था जो होलगुइन जा रहा था, जिसमें 107 यात्री सवार थे. फ्लाइट के क्रैश होने के बाद वहां आसपास धुंए का गुबार भी देखा गया है. विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद दमकल की गाडि़यां मौके पर पहुंच गई हैं. इस घटना के बाद भारी संख्या में पुलिसबल को भी तैनात कर दिया गया है
प्रधानमंत्री मोदी का रूस दौरा दोनों देशों के संबंधो के लिए मील का पत्थर साबित होगा : ICCI
18 May 2018
नई दिल्ली: इंटीग्रेटेड चेंबर्स ऑफ कॉमर्स (आईसीसीआई) ने कहा है कि अमेरिका और चीन के बीच तेजी से बढ़ते वैश्विक टकराव के बीच रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन के निमंत्रण पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 21 मई का रूस दौरा, भारत और रूस के संबंधों के लिए मील का पत्थर साबित होगा. आईसीसीआई के निदेशक मानवेंद्र कुमार ने कहा, 'अप्रैल में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सफल शिखर सम्मेलन के बाद प्रधानमंत्री की रूस यात्रा काफी महत्वपूर्ण है जिसमें भारत के बढ़ते आर्थिक कद को और वैश्विक बल मिलेगा.' कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री की रूस यात्रा से दोनों देशों के बीच संबंध बेहतर होंगे. वहीं भारत के आर्थिक हित को काफी लाभ मिलेगा. उन्होंने कहा, 'इस यात्रा के दौरान भारत में निवेश के अवसर पर विशेष चर्चा होगी जिसका फायदा देश को मिलेगा.'
इंडोनेशिया में पुलिस मुख्यालय पर आतंकी हमला, पुलिस अधिकारी समेत चार की मौत
17 May 2018
नई दिल्ली: इंडोनेशिया के पुलिस मुख्यालय पर हुई हमले में पुलिस ने चार आरोपियों को मार गिराने का दावा किया है. अधिकारियों ने बुधवार को कहा कि पुलिस मुख्यालय पर हमला करने वाले चारों आरोपियों को मार गिराया गया है. गौरतलब है कि इस हमले में एक पुलिस अधिकारी की भी मौत हुई है जबकि कई अन्य पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल भी हुए हैं. देश की राष्ट्रीय पुलिस के अनुसार सुमात्रा द्वीप पर रिआयू में एक स्टेशन के द्वार पर समूह ने एक मिनी वैन से टक्कर मारी और उसके बाद हमलावरों ने अधिकारियों पर हमला किया. प्रवक्ता सेतयो वास्सितो ने कहा कि चार हमलावरों को मार गिराया गया है जबिक एक और आरोपी की तलाश की जा रही है. खास बात यह है कि शुरूआत में स्थानीय पुलिस प्रमुख ने बताया था कि उन्होंने तीन लोगों को मार गिराया और एक अन्य घायल हो गया. जबकि मीडिया में चली खबरों के अनुसार एक हमलावर ने अपने शरीर पर एक बम बांधे होने की बात चल रही थी. हालांकि पुलिस ने तत्काल इन रिपोर्टों की पुष्टि नहीं की है
कारगिल युद्ध से पाक सेना को पीछे हटाने के लिए शरीफ जिम्मेदार, भारत ने बनाया था दबाव : परवेज मुुशर्रफ
16 May 2018
इस्लामाबाद: पाकिस्तान के पूर्व तानाशाह परवेज मुशर्रफ ने अपदस्थ प्रधानंमत्री नवाज शरीफ को 1999 में पाकिस्तान की सेना के मजबूत स्थिति में होने के बाद भी भारत के दबाव में कारगिल से पीछे हटने के लिए जिम्मेदार ठहराया है. कारगिल लड़ाई के दौरान सेना प्रमुख रहे मुशर्रफ ने यह भी मांग की कि शरीफ पर 2008 के मुम्बई हमले के बारे में विवादास्पद बयान देने को लेकर राजद्रोह का मुकदमा चलना चाहिए. पाकिस्तान में कई मामलों का सामना कर रहे 74 वर्षीय सेवानिवृत जनरल पिछले साल से दुबई में रह रहे हैं. उन्हें चिकित्सा के लिए देश से बाहर जाने की अनुमति दी गयी थी. मुम्बई हमले पर शरीफ के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया में ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग के प्रमुख मुशर्रफ ने कारगिल युद्ध के बारे में भी बात की और पाकिस्तान सेना के पीछे हटने के लिए शरीफ को जिम्मेदार ठहराया. इस युद्ध और तत्कालीन घटनाओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पाकिस्तान इस लड़ाई में पांच अलग-अलग स्थानों पर मजबूत स्थिति में था और तत्कालीन प्रधानमंत्री को कम से कम दो बार इस स्थिति के बारे में बताया गया. उन्होंने शरीफ के इस दावे को खारिज कर दिया कि कारगिल से पाकिस्तानी सेना के हटने के बारे में उन्हें विश्वास में नहीं लिया गया. मुशर्रफ ने एक वीडियो बयान में कहा, ‘वह मुझसे पूछते रहे कि क्या हमें वापस आ जाना चाहिए.’ पूर्व राष्ट्रपति और सैन्य शासक ने यह भी कहा कि तत्कालीन सीनेटर राजा जफारुल हक तथा तत्कालीन गृह मंत्री चौधरी शुजात ने भी सेना के वापस लौटने का विरोध किया था. लेकिन अमेरिका से लौटने के बाद शरीफ ने सेना के कारगिल से पीछे हटने का आदेश दिया. शरीफ भारत सरकार के दबाव में थे.
पाकिस्तान : नवाज शरीफ के 'कबूलनामे' के बाद एनएसजी की बैठक जारी
14 May 2018
नई दिल्ली: पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के मुंबई हमले में पाकिस्तानी आतंकवादियों का हाथ होने के कबूलनामे के बाद आज पाकिस्तान में एनएसजी की अहम बैठक जारी है. यह बैठक प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी के घर हो रही है. बैठक में सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा, चेयरमैन ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी जनरल जुबेर महमूद हयात, डायरेक्टर जनरल आईएसआई नवीद मुख्तार, सिविल गवर्नमेंट की तरफ से रक्षा मंत्री और विदेश मंत्री खुर्रम दस्तगीर और सरकार के दूसरे आला अफसर मौजूद हैं. बैठक में नवाज शरीफ के बयान पर चर्चा होगी. आपको बता दें कि पाकिस्तान की सेना की तरफ से कल ही ट्वीट कर यह जानकारी दी गई थी कि एनएसजी की बैठक में नवाज शरीफ के बयान पर मुल्क की राय के बारे में फैसला होगा. गौरतलब है कि नवाज शरीफ ने एक बयान दिया था. जिसमें उन्होंने मुंबई हमले में पाकिस्तानी आतंकवादियों का हाथ होने और उन्हें सीमा पार करने की इजाजत देने की बात मानी थी. शरीफ के इस बयान के बाद से ही पाकिस्तान में उनकी जमकर मजम्मत हो रही है. इमरान खान और पाक की सेना ने इस पर गंभीर आपत्ति जताई है. दूसरी तरफ, चौतरफा मजम्मत के बाद नवाज शरीफ ने कहा है कि मुंबई हमले पर मेरे बयान की गलत व्याख्या की गयी.
जापान में 5.1 तीव्रता का भूकंप का झटका
12 May 2018
टोक्यो: जापान के नागानो में शनिवार को रिक्टर पैमाने पर 5.1 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए. हालांकि, भूकंप से किसी तरह के जान एवं माल की हानि की खबर नहीं है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने जापान मौसम विज्ञान एजेंसी के हवाले से बताया कि भूकंप के झटके सुबह 10.29 बजे 10 किलोमीटर की गहराई में दर्ज किए गए. भूकंप के बाद सुनामी को लेकर किसी तरह का खतरा नहीं है. गौरतलब है कि पिछले महीने की 9 तारीख को भी पश्चिमी जापान में रिक्टर पैमाने पर 6.1 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए थे. जिसमें चार लोगों की मौत हो गई थी. जापान मौसम विज्ञान एजेंसी (जेएमए) के मुताबिक, भूकंप का झटका रात 1.32 बजे महसूस किया गया था. भूकंप का केंद्र 35.2 डिग्री उत्तरी अक्षांश और 132.6 डिग्री पूर्वी देशांतर में दर्ज किया गया. भूकंप के बाद शहर के कई हिस्सों में बिजली आपूर्ति ठप हो गई थी और पानी आपूर्ति भी बाधित रही.
पाकिस्तान भी लगा सकता है अमेरिका के राजनयिकों पर प्रतिबंध
11 May 2018
नई दिल्ली: अमेरिका द्वारा पाकिस्तानी राजनयिकों पर यात्रा प्रतिबंध लगाने के बाद पाकिस्तान भी प्रतिक्रिया स्वरूप इसी तरह के प्रतिबंध अमेरिकी राजनयिकों पर लगाने पर विचार कर रहा है. अमेरिका द्वारा पाकिस्तान राजनयिकों पर लगाए गए यात्रा प्रतिबंध शुक्रवार से प्रभावी हो रहे हैं. डॉन न्यूज के मुताबिक, प्रशासन इस्लामाबाद में तैनात अमेरिकी राजनयिकों पर प्रतिबंध लगाने की योजना बना रहा है. हालांकि, अमेरिकी राजनयिकों को पहले से ही संघीय प्रशासित जनजातीय क्षेत्रों (फाटा) जैसे अत्यधिक सुरक्षित स्थानों पर जाने की मनाही है. गौरतलब है कि पिछले महीने अमेरिका में पाकिस्तानी राजनयिकों पर वाशिंगटन स्थित दूतावास या अन्य शहरों के वाणिज्य दूतावासों के 40 किलोमीटर से अधिक यात्रा करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था. न्यू जर्सी से अमेरिकी कांग्रेसमैन डोनाल्ड नॉरक्रॉस ने कहा, "महत्वपूर्ण चीज संवाद है और हम इस तरह के प्रतिबंध लगाकर संवाद को समाप्त कर रहे हैं तो मेरे ख्याल से यह सही फैसला नहीं है." अमेरिका में पाकिस्तान के राजदूत एजाज चौधरी ने गुरुवार को 'वॉयस ऑफ अमेरिका' को बताया, "मेरे विचार में यह सही फैसला नहीं है."
अपनी जिंदगी को अलविदा कहने स्विट्जरलैंड रवाना हुए ऑस्ट्रेलिया के सबसे उम्रदराज वैज्ञानिक
10 May 2018
सिडनी: ऑस्ट्रेलिया के सबसे उम्रदराज वैज्ञानिक डेविड गुडाल को अब जीने की कोई इच्छा नहीं रह गई है. इसलिए वह अपना जीवन समाप्त करने लिए स्विट्जरलैंड रवाना हो गए हैं. ऑस्ट्रेलिया के सबसे उम्रदराज वैज्ञानिक ने लाइलाज बीमारी से तंग आकर अपनी जीवनलीला समाप्त करने के लिए ऐसा किया है. लेकिन इससे पहले वह अपने परिवार के साथ थोड़ा वक्त बिताना चाहते हैं. जीवन के सौ से ज्यादा बसंत देख चुके डेविड गुडाल (104) को लाइलाज बीमारी है इसलिए वह अपनी इच्छा से मरना चाहते हैं. इच्छा मृत्यु की वकालत करने वालों ने बताया कि वह बुधवार को पर्थ में एक विमान में सवार हुए. उन्हें अंतिम विदाई देने उनके दोस्त और परिवार के सदस्य आए थे. वह स्विट्जरलैंड जाने से पहले फ्रांस में अपने परिवार के साथ कुछ दिन बिताएंगे. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया से रवाना होने से पहले एबीसी प्रसारणकर्ता से कहा, ‘मैं स्विट्जरलैंड नहीं जाना चाहता, हालांकि वह अच्छा देश है. लेकिन आत्महत्या करने के मौके के लिए मुझे जाना होगा क्योंकि ऑस्ट्रेलियाई कानून इच्छा मृत्यु की इजाजत नहीं देता है. मैं बहुत अप्रसन्न हूं
अफगानिस्‍तान में ‘सेक्‍स स्‍लेव’ के दमपर अपनी जड़ें मजबूत करने में जुटा इस्लामिक स्टेट
9 May 2018
नई दिल्ली: जब मोहम्मद शाह को यह एहसास हुआ कि वह अपने मंगेतर के पिता को पारंपरिक अफगानी शादी के लिए 1,5000 डॉलर नहीं दे पाएगा, तब उसे एक ऐसे ग्रुप का ख्याल जिसके उपर मदद का पूरा भरोसा था. वह ग्रुप था 'इस्लामिक स्टेट'. उत्तरी प्रांत के जोवजान के एक गांव के रहने वाले 23 वर्षीय मोहम्मद शाह ने करीब चार महीने पहले घर छोड़ दिया और आतंकवादी ग्रुप में शामिल हो गया. कुछ दिनों बाद ही उसने इस्लामिक स्टेट के अन्य आतंकियों के साथ अपनी मंगेतर के घर पर धावा बोलकर उसे बंदूक की जोर पर किडनैप कर लिया. बाद में एक मस्जिद में शादी कर ली. शेबरघान में एक कमरे में अकेले जीवन गुजार रहे मोहम्मद शाह के पिता कहते हैं कि, 'उसने जो किया मैं उससे कतई खुश नहीं हूं, मैंने उसके बारे में कुछ नहीं सुना है क्योंकि वह अब मेरा बेटा नहीं रहा'. इस वाकये से साफ-साफ जाहिर हो रहा है कि किस तरह 'इस्लामिक स्टेट' सीरिया और इराक के बाद अपने नुकसान की भरपाई करने में लगा हुआ है. अफगानी युवकों को उनकी वफादारी के बदले मदद के अलावा ग्रुप स्थानीय लोगों को धमका रहा है, स्कूल बंद करवा रहा है, दुश्मनों का सर धड़ से अलग कर रहा और महिलाओं-लड़कियों का 'सेक्स स्लेव' के लिए अपहरण कर रहा है. इस्लामिक स्टेट के बर्बर हमले जारी अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि पिछले कुछ महीनों में 'इस्लामिक स्टेट' को काफी नुकसान पहुंचा है. लेकिन ग्रुप में अभी भी बर्बर हमले करने की क्षमता बची है. पिछले दिनों काबुल में हुए सीरियल ब्लास्ट की जिम्मेदारी इस्मालिक स्टेट ने ही ली थी. इन हमलों में 29 लोग मारे गए थे. ग्रुव गरीब ग्रामीणों की भर्ती में जोर-शोर से लगा हुआ है. इस्लामिक स्टेट के करीब 600 आतंकी अफगानी सुरक्षा बलों से लोहा ले रहे हैं और जोवजान में नए लोगों को ट्रेनिंग दे रहे हैं. आतंकियों में चीन, सूडान और फ्रांस जैसे देशों के 150 विदेशी भी हैं. अशिक्षित युवकों को कर रहा है भर्ती इस्लामिक स्टेट ने दारजाब में ट्रेनिंग कैंप बना लिया है और अशिक्षित युवकों को भर्ती कर रहा है. अधिकतर 20 वर्ष से कम आयु के हैं. कोई अपनी गरीबी की वजह से ग्रुव को ज्वाइन कर रहा है तो कोई लालच या व्यक्तिगत स्वार्थ की वजह से. दारजाब में इस्लामिक स्टेट ने करीब 40 स्कूलों को या तो बंद करवा दिया या जला दिया है. घर-घर जाकर जोर-जबरदस्ती यह पता लगा रहा है कि उनके यहां कितनी लड़कियां हैं. वहीं, शेबरघान में बड़े पैमाने पर पलायन हो रहा है सेक्स स्लेव के लिए लड़कियों का अपहरण पांच महीने पहले अपनी 2 लड़कियों के अपहरण के बाद पलायन करने वाले 48 वर्षीय मुबारक शाह 'ब्लूमबर्ग' से बातचीत में कहते हैं कि एक रात इस्लामिक स्टेट के आतंकियों ने मेरे घर पर धावा बोला. 16 और 18 वर्षीय बेटियों का अपहरण कर लिया. काफी खोजबीन के बाद उनका पता नहीं लगा. वह अपनी बेटियों के सेक्स स्लेव के तौर पर बेचे जाने की आशंका जताते हैं. वह रोते हुए कहते हैं कि हम अपने बच्चों की मदद करने में असहाय हैं. इस्लामिक स्टेट ने सेक्स स्लेव के लिए बहुत लड़कियों का अपहरण किया. यहां तक कि 12 साल की बच्चियों को भी नहीं छोड़ा
अफगानिस्तान में अगवा 7 भारतीयों इंजीनियरों को लेकर चश्मदीद का बड़ा दावा
8 May 2018
नई दिल्ली: अफगानिस्तान के विदेश मंत्री सलाहुद्दीन रब्बानी ने भारत के नवनियुक्त राजदूत विनय कुमार को आश्वासन दिया कि अफगान सुरक्षा बल अपहृत सात भारतीय इंजीनियरों की सुरक्षा और सुरक्षित रिहाई सुनिश्चित करने में कोई कोर -कसर नहीं छोड़ेंगे. हथियारबंद तलिबान लड़ाकों ने उत्तरी बगलान प्रांत से सात भारतीय इंजीनियरों का रविवार को अपहरण कर लिया था. भारतीय राजदूत के साथ मुलाकात के दौरान रब्बानी ने भारतीय इंजीनियरों के अपहरण पर दुख जताते हुए कहा कि उनकी सुरक्षा और सुरक्षित रिहाई के लिए अफगान बल कोई कोर-कसर बाकी नहीं रखेंगे. उन्होंने कहा कि समुदाय के वरिष्ठ सदस्यों की मदद से भारतीयों की सुरक्षित रिहाई के प्रयास शुरू कर दिये गये हैं. आरपीजी समूह के केईसी इंटरनेशनल में कार्यरत सात भारतीय इंजीनियरों के अपहरण को लेकर रब्बानी ने भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से भी फोन पर बातचीत की. सुषमा ने इंजीनियरों के अपहरण पर भारत की चिंताओं से उन्हें अवगत कराया और उनका पता लगाने तथा उन्हें मुक्त कराने में मदद का अनुरोध किया. सातों भारतीय इंजीनियर एक बिजली सब - स्टेशन के निर्माण कार्य से जुड़े हुए थे. सातों रविवार को परियोजना का निरीक्षण करने जा रहे थे , उसी दौरान चश्म-ए-शेर इलाके से तालिबान ने उनका अपहरण कर लिया पहचान गुप्त रखने का अनुरोध करने वाले एक प्रत्यक्षदर्शी ने पझवोक अफगान न्यूज को बताया कि उसने पुल-ए-खुमरी-मजार-ए-शरीफ राजमार्ग पर हथियारबंद लोगों को एक सफेद कार को रोकते हुए देखा. प्रत्यक्षदर्शी को यह जानकारी नहीं थी कि कार में कितने लोग थे. हालांकि उसने बताया कि तालिबान भारतीय नागरिकों को अपनी मिनी बस में लेकर अपने नियंत्रण वाले क्षेत्र में चले गये
सिंगापुर में हो सकती है डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के बीच बैठक
7 May 2018
नई दिल्ली: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग-उन के बीच जून में होने वाली शिखर बैठक सिंगापुर में हो सकती है. दक्षिण कोरियाई अखबार ‘ चोसुन इल्बो ’ ने सोमवार को प्रकाशित अपनी खबर में उक्त बात कही है. ट्रंप ने बीते सप्ताहांत पर कहा था कि दोनों नेताओं के बीच होने वाली शिखर बैठक के लिए तारीख और जगह तय हो गयी है. अमेरिकी राष्ट्रपति और कोरियाई शासक के बीच यह पहली बैठक होगी. ज्यादा जानकारी दिये बगैर ट्रंप ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम इसकी जल्द ही घोषणा करेंगे.’’ दक्षिण कोरिया के अखबार ने राजनयिक सूत्रों के हवाले से लिखा है कि ऐतिहासिक शिखर बैठक जून माह के मध्य में होगी. सूत्र ने ट्रंप के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टॉन के हवाले से उक्त बात कही है. दक्षिण कोरिया की योनहाज समाचार एजेंसी ने भी इसी तरह की खबर दी है जिसके अनुसार, ट्रंप और किम के बीच यह बैठक सिंगापुर में हो सकती है
क्या सच में डोनाल्ड ट्रंप को मिलेगा नोबेल शांति पुरस्कार? रिपब्लिकन सांसदों ने किया नामांकित
4 May 2018
वाशिंगटन: रिपब्लिकन सांसदों के एक समूह ने इस वर्ष के नोबेल शांति पुरस्कार के लिए कोरियाई युद्ध को समाप्त करने के वास्ते किये गये कार्यों के लिए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को नामांकित किया है. ट्रंप ने उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन से मुलाकात करने का आमंत्रण स्वीकार कर लिया है. अमेरिका और उत्तर कोरिया के नेताओं के बीच इस तरह की यह पहली बैठक होगी एक पत्र में कहा गया है,‘राष्ट्रपति के रूप में कामकाज संभालने के बाद ट्रंप ने इसके लिए लगातार काम किया है कि उत्तर कोरिया अपने परमाणु कार्यक्रम को बंद कर दे और क्षेत्र में शांति कायम हो.’ उत्तर कोरिया ने गत 20 अप्रैल को घोषणा की थी, वह अपने परमाणु हथियारों और इंटरकांटिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण कार्यक्रमों को बंद करेगा. उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया ने 27 अप्रैल को घोषणा की थी कि वे कोरियाई युद्ध को समाप्त करने के लिए काम करेंगे. सांसदों ने पत्र में लिखा है ,‘दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून - जेई - इन ने लगातार उनके ( ट्रंप ) काम की सराहना की है. राष्ट्रपति ट्रंप को नोबेल शांति पुरस्कार मिलना चाहिए.’ व्हाइट हाउस ने इस पत्र के संबंध में एक सवाल का कोई जवाब नहीं दिया. इस पत्र पर 17 रिपब्लिकन सांसदों ने हस्ताक्षर किए है. ट्रंप ने इस सप्ताह की शुरुआत में पत्रकारों से कहा था कि उनका ध्यान क्षेत्र में शांति कायम करने पर है.
ईरान में तगड़ा भूकंप, घायलों की संख्या 105 हुई
3 May 2018
तेहरान: ईरान के पश्चिमी कोगिलुये और बोयर-अहमद प्रांत में बुधवार को आए भूकंप में 105 लोग घायल हो गए. रिक्टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता 5.2 थी. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, भूकंप का केंद्र 30.834 डिग्री उत्तरी अक्षांश और 51.559 डिग्री पूर्वी देशांतर में आठ किलोमीटर की गहाई में दर्ज किया गया।. भूकंप के झटकों के बाद लोग डरकर सड़कों पर निकल आए. सड़कों पर गश्ती कर रहे दमकलकर्मी लोगों से घरों के भीतर जाने से बचने की हिदायत देते नजर आए. अभी तक किसी तरह की बड़ी क्षति नहीं हुई है लेकिन रिहायशी क्षेत्रों में आंशिक क्षति पहुंची है. 0 टिप्पणियांडेना और सिसाक्त क्षेत्रों में संचार और बिजली आपूर्ति बाधित हुई है. बोयर-अहमद काउंटी के गवर्नर शाहरोख केनारी का कहना है कि पानी की प्रमुख पाइपलाइन के क्षतिग्रस्त होने की वजह से माडवन शहर में पीने के पानी की सप्लाई बाधित हुई है.
ट्रंप के पूर्व डॉक्‍टर का आरोप, ऑफिस पर उनके बॉडीगार्ड की छापेमारी
2 May 2018
डोनाल्ड ट्रंप के पूर्व चिकित्सक ने कहा है कि व्हाइट हाउस के एक शीर्ष सहयोगी ने बीते साल उनके न्यूयॉर्क सिटी कार्यालय पर 'छापा' मारा था और वहां से अमेरिकी राष्ट्रपति का स्वास्थ्य रिकॉर्ड अपने साथ ले गया था. उन्होंने कहा कि इस घटना से उन्हें 'दुष्कर्म, भय व दुख' का अहसास हुआ था. 0 टिप्पणियांहेरोल्ड बोर्नस्टीन ने एनबीसी न्यूज से मंगलवार को कहा कि लंबे समय से ट्रंप के निजी अंगरक्षक कीथ शिलर व एक अन्य 'विशालकाय व्यक्ति' ने 3 फरवरी 2017 को 'छापेमारी' की थी. उनके साथ बाद में ट्रंप संगठन के मुख्य कानूनी अधिकारी एलन गार्टन भी शामिल हो गए थे. उस समय शिलर व्हाइट हाउस में ओवल कार्यालय संचालन के निदेशक के तौर पर सेवाएं दे रहे थे. उन्होंने सितंबर 2017 में पद छोड़ दिया. बोर्नस्टीन (70) ने कहा कि ट्रंप के चार्ट की मूल व सिर्फ एक प्रति ली गई. इसमें ट्रंप के नाम के तहत लैब रिपोर्ट के साथ-साथ ट्रंप के लिए छद्म नाम से इस्तेमाल की गई रिपोर्ट भी शामिल थी. बोर्नस्टीन ने कहा, "वे मेरे कार्यालय में महज 25 से 30 मिनट रहे होंगे. इससे बहुत ही अराजकता पैदा हुई." बोर्नस्टीन ने कहा कि उन्हें चिकित्सा रिकॉर्ड जारी करने के अधिकार वाला राष्ट्रपति द्वारा हस्ताक्षरित फार्म नहीं दिया गया, जो कि मरीज के निजता कानून का हनन है.
इजरायल के पीएम का दावा- ईरान ने छिपकर परमाणु कार्यक्रम जारी रखा, अमेरिका ने कहा- 12 दिनों में करेंगे फैसला
1 May 2018
नई दिल्ली: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि वह 12 दिनों के भीतर फैसला करेंगे कि अमेरिका ईरान परमाणु समझौते से अलग होगा या नहीं. ट्रंप ने इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के उन दावों के बाद यह बयान दिया है, जिसमें नेतन्याहू ने ईरान पर आरोप लगाया है कि तेहरान ने दुनिया की नजरों से छिपकर परमाणु हथियार बनाने की कोशिश की. सीबीएस न्यूज के मुताबिक, नेतन्याहू ने कहा कि उनके पास ईरान के खुफिया परमाणु हथियार कार्यक्रम को लेकर साक्ष्य हैं. इजरायली प्रधानमंत्री ने ट्रंप को 2015 के ईरान परमाणु समझौते से अलग होने के लिए ठोस वजह दे दी है. इस समझौते के तहत ईरान खुद पर लगाए गए प्रतिबंधों के बदले में अपने परमाणु हथियार कार्यक्रमों को बंद करने पर सहमत हो गया था लेकिन नेतन्याहू का कहना है कि ईरान ने असल में अपना परमाणु कार्यक्रम रोका ही नहीं. नेतन्याहू ने कहा, "मैं आपको एक बात बताने आया हूं. ईरान ने झूठ बोला है." नेतन्याहू ने लाइव पावरप्वाइंट प्रेजेंटेशन पेश करते हुए कहा कि उनकी सरकार को हजारों की संख्या में दस्तावेज मिले हैं, जिनसे पता चला है कि ईरान समझौते के बाद भी परमाणु कार्यक्रमों में संलिप्त था. उन्होंने कहा, "इन फाइलों में तमाम चीजें हैं, दस्तावेज, प्रेजेंटेशन, ब्लूप्रिंट, वीडियो और भी बहुत कुछ हैं जो ईरान के दोष को सिद्ध करते हैं."
काबुल में अात्मघाती हमला, 25 की मौत, 45 घायल
30 April 2018
काबुल: अफगानिस्तान की खुफिया एजेंसी के पास सोमवार को मोटरसाइकिल सवार आत्मघाती हमलावर ने विस्फोट करके खुद को उड़ा लिया. पुलिस के मुताबित इस आत्मघाती हमले में कम-से-कम 25 लोगों की मौत हो गई है. काबुल पुलिस के मुताबिक हमले में 25 नागरिकों की मौत हो गई और करीब 45 लोग घायल हो गये. गृह मंत्रालय के प्रवक्ता नजीब दानिश ने हमले की पुष्टि की है. आपको बता दें कि, इससे पहले 24 अप्रैल को अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में मतदाता पंजीकरण केंद्र पर भी आत्मघाती हमला हुआ था. इस हमले में मृतकों की संख्या बढ़कर 69 हो गई थी, जबकि घायलों की संख्या 120 है. समाचार एजेंसी एफे ने पुलिस प्रवक्ता के हवाले से बताया कि कुछ शवों को अस्पतालों की बजाए सीधे घर ले जाया गया, जिस वजह से मृतकों की संख्या बढ़ी है. मृतकों में 27 महिलाएं और दो पुलिसकर्मी हैं. जिन शवों को घर ले जाया गया था, उन्हें बाद में अस्पताल ले जाय गया, जिसमें मृतकों की कुल संख्या का पता लगाने में देरी हुई. पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि घायलों में लगभग आधी संख्या महिलाओं की हैं जबकि पांच पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं.
यूके कोर्ट ने भगोड़े विजय माल्‍या के खिलाफ दाखिल CBI के कई साक्ष्य स्वीकार किए
28 April 2018
लंदन : ब्रिटेन की एक अदालत ने विवादित शराब कारोबारी विजय माल्या के प्रत्यर्पण से जुड़े मुकदमे में भारतीय अधिकारियों की ओर से सौंपे गए बहुत सारे साक्ष्यों को स्वीकार कर लिया है. इस मामले में अगली सुनवाई अब 11 जुलाई को होगी. माल्या (62) करीब 9,000 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्र्रिंग के मामले में भारत में वॉन्‍डेट है. पिछले साल अप्रैल में स्कॉटलैंड यार्ड की ओर से प्रत्यर्पण वॉरंट पर अपनी गिरफ्तारी के बाद से वह 650,000 पाउंड की जमानत पर हैं. शुक्रवार को माल्‍या की जमानत अवधि अगली सुनवाई की तारीख 11 जुलाई तक के लिए बढ़ा दी गई है. अदालत जब अगली सुनवाई करेगी तो वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत की न्यायाधीश एम्मा अर्बथनॉट के समक्ष मौखिक दलीलें दी जाएंगी. इसके बाद न्यायाधीश अगली सुनवाई में मामले पर फैसले की अपनी योजना के संकेत दे सकती हैं. इससे पहले, माल्या सुनवाई के सिलसिले में अदालत आए थे जिस दौरान सीबीआई को उस वक्त बड़ी कामयाबी मिली जब न्यायाधीश ने पुष्टि की कि भारतीय अधिकारियों की ओर से सौंपे गए बहुत सारे साक्ष्य स्वीकार किए जाएंगे. माल्या ने स्थानीय वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत के बाहर पत्रकारों को बताया, ‘अदालत में एक और दिन.’ आज की सुनवाई ऐसे समय में हुई जब प्रत्यर्पण पर वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत के एक पिछले फैसले के खिलाफ भारत सरकार की ओर से हाईकोर्ट में की गई अपील नकार दी गई थी. साल 2000 में दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान हैंसी क्रोन्ये से जुड़े मैच फिक्सिंग मामले में अहम आरोपी और भारत में वांछित संजीव कुमार चावला को दिल्ली के तिहाड़ जेल की गंभीर स्थितियों के मुद्दे पर मानवाधिकारों के आधार पर पिछले साल अक्तूबर में आरोपमुक्त कर दिया गया था. चावला को प्रत्यर्पित किए जाने पर तिहाड़ जेल में ही रखने की तैयारी थी. जिला न्यायाधीश रेबेका क्रेन ने चावला को आरोप-मुक्त करने के अपने फैसले के लिए यूरोपीय परिषद की यातना रोकथाम समिति (सीपीटी) के निर्वाचित सदस्य और स्कॉटिश कारागार सेवा में स्वास्थ्य देखभाल मामलों के पूर्व प्रमुख डॉ.एलेन मिचेल की गवाही को आधार बनाया था. माल्या की बचाव टीम ने उन्हीं जेल विशेषज्ञों से गवाही दिलवाई , जिन्होंने न्यायाधीश अर्बर्थनॉट को मुकदमे की सुनवाई के दौरान कहा कि सभी भारतीय जेलों की दशा असंतोषजनक है. पिछले साल चार दिसंबर को लंदन की अदालत में इस मामले की सुनवाई शुरू हुई थी, जिसका मकसद माल्या के खिलाफ धोखाधड़ी के मामले को प्रथम दृष्टया स्थापित करना है. माल्या मार्च 2016 में भारत छोड़कर जाने के बाद ब्रिटेन में रह रहे हैं. माल्या की बचाव टीम ने दावा किया था कि उनकी कोई गलत मंशा नहीं है और भारत में उन पर निष्पक्ष तरीके से मुकदमा चलाने की संभावना नहीं है. यदि न्यायाधीश भारत सरकार के पक्ष में फैसला देती हैं तो ब्रिटेन के विदेश मंत्री के पास माल्या के प्रत्यर्पण आदेश पर दस्तखत के लिए दो महीने का वक्त होगा. बहरहाल, दोनों पक्षों के पास मजिस्ट्रेट की अदालत के फैसले के खिलाफ ब्रिटेन की ऊंची अदालतों में अपील करने का हक होगा. रक्षा मंत्रालय ने 3700 करोड़ रुपये के हथियारों की ख़रीद पर अपनी मुहर लगा दी है। इन हथियारों में देश में ही बनी एंटी टैंक नाग मिसाइलें और नौसेना के लिए युद्धपोतों पर इस्तेमाल होने वाले गन शामिल हैं. रक्षा मंत्री निर्मला सीतारण की अध्यक्षता वाली रक्षा ख़रीद परिषद ने 524 करोड़ की लागत से सेना के लिए 300 नाग एंटी टैंक मिसाइल सिस्टम को खरीद को मंज़ूरी दी. नाग मिसाइल चार किलोमीटर की रेंज में दुश्मन के किसी भी टैंक को दिन और रात में बर्बाद कर सकता है. इसके साथ ही नौसेना के लिए युद्धपोतों पर तैनाती के लिए 3000 करोड़ की लागत से 127 MM कैलिबर गन की ख़रीद को भी हरी झंडी दी गई है. ये गन नए बन रहे युद्धपोतों पर तैनात किए जाएंगे.
24 घंटे में 6 बार मिलेंगे पीएम मोदी और शी चिनफिंग, दो दिवसीय 'दिल से दिल' समिट की शुरुआत
27 April 2018
नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय चीन के दौरे पर हैं, जहां शुक्रवार को चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मुलाकात करेंगे. हालांकि, इन दोनों नेताओं के बीच अनौपचारिक शिखर वार्ता का कार्यक्रम है. गुरुवार की देर रात पीएम मोदी चीन के वुहान शहर पहुंचे, जहां उनका जोरदार स्वागत किया गया. सबकी नज़रें आज और कल पीएम मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफ़िंग की मुलाक़ात पर टिकी हैं. पीएम मोदी और शी चिनपिंग के इस अनौपारिक शिखर वार्ता को हार्ट टू हार्ट सम्मेलन का नाम दिया गया है. यानी दिल से दिल जोड़ने के कार्यक्रम के तहत दोनों नेता वैश्विक और द्विपक्षीय संबंधों पर बातचीत करेंगे. डोकलाम विवाद के बाद पीएम के इस दौरे को काफ़ी अहम माना जा रहा है. दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को सुधारने के लिए आज और कल पीएम मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफ़िंग के बीच अनौपचारिक शिखर वार्ता होगी. कई दूसरे अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर भी चर्चा होगी. खास बात है कि 24 घंटे में दोनों नेता कुल 6 बार एक-दूसरे से मिलेंगे. हालांकि इस दौरान न तो किसी समझौते पर दस्तख़त होगा और न ही कोई साझा बयान जारी होगा... 2014 में पीएम बनने के बाद मोदी चौथी बार चीन की यात्रा पर हैं. पहले दिन का कार्यक्रम: 27 अप्रैल को दोपहर 3.30 बजे से 4.30 बजे : पीएम मोदी और शी चिनफिंग की पहली मुलाकात होगी. जिसमें वे दोनों नेता आमने-सामने बातचीत करेंगे. 6.00 बजे : एक बार फिर पीएम मोदी और शी चिनफिंग की मुलाकात होगी. 6.40 बजे : पीएम मोदी शी चिनफिंग के साथ रात्रि भोज करेंगे. उम्मीद जताई जा रही है कि इस दौरान प्रतिनिधि मंडल भी उपस्थित होगा. दूसरे दिन का कार्यक्रम: 28 अप्रैल को 10.00 बजे से 10.30 बजे :पीएम मोदी शी चिनफिंग के साथ झील किनारे टहलेंगे. 10.30 बजे से 11.00 बजे : ईस्ट झील में पीएम मोदी राष्ट्रपति चिनफिंग के साथ बोट राइडिंग का आनंद लेंगे. 11.40 से 12.30 बजे : राष्ट्रपति चिनफिंग के साथ पीएम मोदी लंच करेंगे. ये जितने भी कार्यक्रम हैं, वह सभी चीनी समयानुसार तय हैं. गौरतलब है कि इस इस वार्ता को अनौपचारिक वार्ता का नाम दिया गया है. ऐसा इसलिए भी क्योंकि इस वार्ता के दौरान दोनों पक्षों की तरफ से किसी समझौते पर दस्तखत नहीं किए जाएंगे. और न ही कोई साझा बयान जारी होगा. ये मौक़ा दोनों देशों के प्रमुखों के बीच अनौपचारिक सीधी आपसी बातचीत का है. ध्यान हो कि डोकलाम विवाद के कारण दोनों देशों के संबंधों में आए खटास को दूर करने के लिए हाल के समय में दोनों पक्षों ने कई कदम उठाए हैं. इस दिशा में भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल ने भी चीन की यात्रा की थी.
किम जोंग पैदल सीमा पार कर दक्षिण कोरिया की धरती पर रखेंगे कदम, अंतर कोरियाई सम्मेलन में लेंगे हिस्सा
26 April 2018
सियोल: उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन शुक्रवार को ऐतिहासिक अंतर कोरियाई सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए पैदल ही सीमा पार करेंगे. समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति कार्यालय ब्लू हाउस के हवाले से बताया कि किम जोंग उन दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति से दोनों कोरियाई देशों को विभाजित करने वाली सैन्य सीमांकन रेखा (एमडीएल) पर शुक्रवार सुबह 9.30 बजे मुलाकात करेंगे. किम जोंग दोनों कोरियाई देशों को विभाजित करने वाले सीमावर्ती पनमुंजोम गांव के बीच मौजूद ब्लू पवैलियन्स के बीच से एक तंग गलियारे से होते हुए एमडीएल को पार करेंगे. इसके बाद दोनों नेताओं को सम्मेलन स्थल पीस हाउस की ओर जाते समय ऑनर गार्ड दिए जाएंगे. समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, किम जोंग उन 1950-53 के कोरियाई युद्ध की समाप्ति के बाद से दक्षिण कोरिया की धरती पर कदम रखने वाले पहले उत्तर कोरियाई शासक होंगे. सियोल सरकार का कहना है कि स्वागत समारोह और औपचारिक वार्ता के बाद सम्मेलन का पहला दौर सुबह 10.30 बजे शुरू होगा. 0 टिप्पणियांउत्तर कोरिया की ओर से नौ सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल में देश के ऑनरेरी अध्यक्ष किम योंग नैम, विदेश मंत्री री योंग हो और किम की बहन किम यो जोंग भी हैं. किम यो जोंग उत्तर कोरिया की वर्कर्स पार्टी के प्रोपेगैंडा एंड एजिटेशन डिपार्टमेंट की निदेशक हैं. किम यो जोंग ने दक्षिण कोरिया में शीतकालीन ओलम्पिक खेलों के दौरान सियोल का ऐतिहासिक दौरा भी किया था. सम्मेलन के सुबह के सत्र के बाद दोनों पक्ष एक सांकेतिक समारोह में साथ मिलकर पौधारोपण करने से पहले अलग-अलग दोपहर का भोजन करेंगे. इसके बाद दोनों नेताओं के बीच संक्षिप्त और अनौपचारिक वार्ता भी होगी. सियोल के एक प्रवक्ता के मुताबिक, इस बैठक के अंत में मून और किम जोंग उन एक समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे और एक ऐलान करेंगे. मून के कार्यालय द्वारा उपलब्ध कराई गई जानकारी के मुताबिक, शाम 6.30 बजे एक भोज का आयोजन किया जाएगा, जिसमें किम जोंग उन की पत्नी री सोल जू के भी हिस्सा लेने की उम्मीद है. इसके बाद विदाई समारोह के साथ सम्मेलन खत्म होगा.
इस भारतीय की दुबई में लगी लॉटरी, एक झटके में बन गया करोड़पति
25 April 2018
दुबई: वो गाना तो आपने सुना होगा कि 'देने वाला जब भी देता, देता छप्पर फाड़ के'. भारत के एक बिजनेसमैन ने दुबई में जब लॉटरी का टिकट खरीदा था तब शायद उन्हें भी नहीं पता होगा कि उनकी किस्मत पलटने वाली है और पैसों की बारिश होने वाली है. भारतीय बिजनेसमैन प्रबीन थॉमस ने दुबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर ड्यूटी फ्री ड्रॉ के जरिये 1 मिलियन डॉलर यानी करीब 6,64,20,000 रुपये जीतकर सभी को चौंका दिया है. केरल के रहने वाले प्रबीन थॉमस का नेटवर्किंग का बिजनेस है. दुबई में उन्होंने लॉटरी का टिकट खरीदा था. जिसका नंबर 0471 था और यह टिकट उनके लिए लकी साबित हुआ. उन्होंने 1 मिलियन डॉलर जीत लिया है. प्रबीन थॉमस ने कहा कि भारत में मैंने कई बार लॉटरी का टिकट खरीदा था, लेकिन इससे पहले कभी सफलता नहीं मिली थी. लॉटरी में मेरी यह पहली जीत है. दुबई में मैंने अपने भाग्य को आजमाने का निर्णय लिया था और ऑनलाइन लॉटरी का टिकट खरीदा था. मुझे भरोसा ही नहीं हो रहा है कि मेरी लॉटरी लग गई और मैं जीत गया हूं. प्रबीन थॉमस ने कहा कि लॉटरी के पैसों से वह अपने नेटवर्किंग बिजनेस को बढ़ाएंगे. एक छोटी सॉफ्टवेयर कंपनी भी खोलने की सोच रहे हैं. गौरतलब है कि इसी लॉटरी में प्रबीन थॉमस के अलावा एक और भारतीय ने जीत हासिल की है और बाइक अपने नाम किया है. भारतीय मैकेनिक की भी लगी थी 1 मिलियन डॉलर की लॉटरी : यह पहला मौका नहीं है जब किसी भारतीय ने यहां लॉटरी में जीत हासिल की है. कुछ दिनों पहले ही केरल के रहने वाले मैकेनिक पिंटो पॉल थोमन्ना ने भी दुबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर आयोजित ड्ऱॉ में 1 मिलियन डॉलर अपने नाम किया था. उससे पहले यहां इलेक्ट्रिशियन के तौर पर काम करने वाले धनीश कोठारामबन ने भी 1 मिलियन डॉलर की लॉटरी जीती थी. दूसरी तरफ, कुछ दिनों पहले केरल के ही रहने वाले एक ड्राइवर ने अबूधाबी में बिग टिकट रैफेल के ड्रॉ में 21 करोड़ रुपये जीतकर सभी को चौंका दिया था.
अफगानिस्तान : तालिबान के हमले में 9 अफगान सैनिकों की मौत
24 April 2018
बनई दिल्ली: अफगानिस्तान के तालिबान द्वारा किए ताजा हमले में कम से कम नौ अफगान सैनिकों की मौत हो गई है. प्रांतीय गवर्नर के प्रवक्ता मोहम्मद नसीर मेहरी के अनुसार पश्चिमी फराह प्रांत में तालिबान द्वारा सुरक्षा बल की चौकी पर किए हमले में कम से कम पांच सैनिकों की मौत हो गई. मेहरी ने बताया कि बाला बुलुक जिले में हुए हमले में दो सैनिक घायल हो गए. कई घंटों तक चली मुठभेड़ में छह तालिबानी लड़ाके मारे गए और तीन अन्य घायल हुए हैं. उन्होंने कहा, ‘‘सहायता दल वहां पहुंच गए हैं और स्थिति नियंत्रण में है.’’ फराह में हुए हमले की तत्काल किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली है. मेहरी ने हमले के लिए तालिबान को जिम्मेदार ठहराया है जिसने अफगान सुरक्षा बलों के खिलाफ हमले तेज कर दिए हैं. बहरहाल, तालिबान ने मंगलवार को अफगानिस्तान के पूर्वी गजनी प्रांत में हुए एक अन्य हमले की जिम्मेदारी ली थी. हमले में स्थानीय पुलिस बल के चार कर्मी मारे गए थे और सात अन्य घायल हो गए थे. काबुल में रविवार को मतदाता पंजीकरण केंद्र पर इस्लामिक स्टेट के आत्मघाती विस्फोटों में 69 लोग मारे गए और सोमवार को तालिबान ने पश्चिमी अफगानिस्तान में हमले किए जिसमें 18 सैनिक और पुलिसकर्मी मारे गए थे
पेरिस हमले के संदिग्ध सालाह अब्देसलाम को 20 साल कैद की सजा
23 April 2018
ब्रसेल्स: बेल्जियम की एक अदालत ने सालाह अब्देसलाम को ब्रसेल्स में पुलिस के साथ गोलीबारी मामले में आतंकवाद से संबद्ध हत्या के प्रयास का दोषी करार दिया. कोर्ट ने उसे 20 साल जेल की सजा सुनाई है. सालाह पेरिस हमले का एकमात्र जीवित बचा संदिग्ध है. राजधानी ब्रसेल्स स्थित अदालत ने अपने फैसले में कहा कि इस आतंकवादी घटना में जिहादी सालाह अब्देसलाम और उसके साथी सोफियान अयारी की संलिप्तता को लेकर 'कोई संदेह नहीं है.' अभियोजकों ने अपनी दलील में दोनों के लिए 20 साल जेल की सजा की मांग की थी. बहरहाल न तो 28 वर्षीय अब्देसलाम और न ही अयारी (24) फैसले के वक्त अदालत में मौजूद थे. फ्रांस की जेल में कैद अब्देसलाम के खिलाफ पेरिस हमलों को लेकर अलग से चल रही सुनवाई लंबित है. वर्ष 2015 में हुए इस हमले में 130 लोगों की मौत हो गई थी. पेरिस हमलों के बारे में मिली खुफिया सूचना के आधार पर पुलिस ने 15 मार्च, 2016 को ब्रसेल्स के फॉरेस्ट इलाके में एक फ्लैट पर छापा मारा था और इस दौरान हुई गोलीबारी में चार पुलिस अधिकारी घायल हो गये थे. अब्देसलाम बेल्जियम मूल का फ्रांसीसी नागरिक है पेरिस हमलों को अंजाम देने वाले आतंकवादी सेल से संबद्ध आत्मघाती बम हमलावरों ने ही 22 मार्च को ब्रसेल्स हवाईअड्डा और एक मेट्रो स्टेशन पर हमला किया था. इसमें 32 लोगों की मौत हो गई थी और सैकड़ों लोग घायल हो गए थे. फैसले में कहा गया कि अब्देसलाम ने अपनी मां को संबोधित कर एक पत्र लिखा था, जिसमें उसने लिखा 'अल्लाह ने मुझे रास्ता दिखाया और मेरी राह खोलने के लिये उसने मुझे भी अपने मुलाजिमों में शामिल किया. यही वजह है कि मैं अल्लाह के दुश्मनों से अपनी पूरी ताकत से लड़ा.' उसने कहा, 'मेरे भाई ब्राहिम ने खुदकुशी नहीं की. वह इस्लाम का सूरमा है.' ब्राहिम ने पेरिस हमलों के दौरान खुद को बम से उड़ा लिया था. फैसले को देखते हुए बेल्जियम पुलिस ने वहां की अदालत 'पैलेस ऑफ जस्टिस' भवन के आसपास कड़ी सुरक्षा की थी
पाकिस्तान ने चीन के पांच इंजीनियरों और कर्मियों को निर्वासित किया
12 April 2018
लाहौर: पाकिस्तान ने चीन के पांच इंजीनियरों और कर्मियों को निर्वासित कर दिया है. ये लोग गोजरा - खानेवाल मार्ग के एक हिस्से के निर्माण कार्य में लगे थे और इन पर पंजाब प्रांत में सुरक्षा बलों के साथ झड़प के आरोप हैं. प्रोजेक्ट मैनेजर शू लिबिंग, प्रशासनिक अधिकारी तियान वेजुन, इंजीनियर वांग इफान, वित्तीय मामलों के प्रबंधक वांग इफान और फील्ड इंजीनियर तान यांग को वापस चीन भेजा गया है. खानेवाल के जिला पुलिस अधिकारी रिजवान उमर गोंदल ने बताया, ‘दिनपुर से खानेवाल पंजाब तक गोजरा - खानेवाल मोटरवे के 126 किलोमीटर लंबे खंड पर निर्माण कार्य में शामिल पांच चीनी इंजीनियरों और श्रमिकों को वापस चीन भेज दिया गया है. पुलिस उन्हें लेकर लाहौर आई थी जिसके बाद मंगलवार को उन्हें बीजिंग निर्वासित कर दिया गया.’
फिजी में चक्रवात केनी का कहर, 18000 से ज्यादा लोग राहत केंद्र में
11 April 2018
फिजी: राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन कार्यालय (एनडीएमओ) ने बुधवार को कहा कि फिजी में एक दिन पहले आए उष्णकटिबंधीय चक्रवात से भारी बारिश व विनाशकारी हवाओं से 18,000 से ज्यादा लोग अभी भी राहत केंद्रों में हैं. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, एनडीएमओ ने कहा कि चक्रवात की वजह से ज्यादातर खाली कराए गए लोग अपनी सुरक्षा सुनिश्चित होने पर ही घर लौटेंगे. एनडीएमओ के निदेशक अनारे लेवेनिकेला ने कहा कि फिजी पर केनी के प्रभाव का अभी पता नहीं चला है और उनका ध्यान अभी प्रभावित लोगों को आपात सुविधाएं मुहैया कराने पर है. फिजी का कदावु द्वीप इससे सीधे तौर पर प्रभावित है और केनी ने घरों व फसलों को तबाह कर दिया है. केनी की तेज हवाओं की वजह से घर व पेड़ गिर गए है और द्वीप के दक्षिण तरफ कई नौका पलट गईं हैं. टिप्पणियांकेनी की वजह से पश्चिमी फिजी के एक शहर बा में एक व्यक्ति की मौत हो गई. केनी के कारण भारी बारिश व बाढ़ की वजह से मौजूदा समय में पूरे फिजी में 90 सड़कें बंद हैं, जबकि कदावु द्वीप व पश्चिमी भाग में सभी स्कूलों को राहत केंद्रों के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है. ये सभी स्कूल बंद हैं. ईस्टर के लंबे सप्ताहांत के बाद उष्णकटिबंधीय जोसिई चक्रवात से छह लोगों की मौत होने के एक हफ्ते बाद केनी दूसरा उष्णकटिबंधीय चक्रवात है, जिसने फिजी को तबाह कर के रख दिया है
ट्रंप के वकील के कार्यालय पर FBI ने की छापेमारी, पॉर्न अभिनेत्री से संबंधित दस्तावेज जब्त किए
10 April 2018
वाशिंगटन: एफबीआई ने आज राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के निजी वकील माइकल कोहेन के कार्यालय पर छापेमारी की और पॉर्न फिल्म अभिनेत्री को 130,000 डॉलर भुगतान से जुड़ी सूचना सहित कई दस्तावेज जब्त किया. अभिनेत्री ने ट्रंप के साथ 2006 में संबंध होने के आरोप लगाए थे. छापेमारी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये ट्रंप ने संघीय जांच एजेंसी (एफबीआई) पर निशाना साधा और तलाशी को ‘अपमानजनक’ और ‘अपने देश पर हमला’ करार दिया. एफबीआई ने कोहेन के न्यूयार्क स्थित कार्यालय पर छापेमारी की और वयस्क फिल्म अभिनेत्री स्टॉर्मी डेनियल्स को भुगतान सहित कई विषयों से जुड़े दस्तावेज और व्यापारिक रिकार्ड एवं ईमेल जब्त किये. कई वर्षों से ट्रंप के विश्वासपात्र रहे कोहेन ने 2016 के चुनाव से पहले पॉर्न अभिनेत्री स्टॉर्मी डेनियल्स को 130,000 अमेरिकी डॉलर का भुगतान किया था. अभिनेत्री ने दावा किया कि उन्हें यह राशि ट्रंप के साथ उनके कथित संबंधों पर मुंह बंद रखने के लिए दी गई थी. हालांकि, व्हाइट हाउस ने आरोपों से इंकार किया है. सूत्रों के हवाले से सीएनएन ने खबर दी है कि तलाशी अभियान की शर्तें बहुत व्यापक थीं. जब्त किये गये दस्तावेजों में बैंक रिकॉर्ड और अभिनेत्री की सूचना से जुड़े कागजात शामिल हैं कोहेन के वकील स्टीफन रेयान ने कहा कि न्यूयार्क में दक्षिणी जिले के अमेरिकी अटॉर्नी के कार्यालय ने उनके कार्यालय सहित ‘कई सारे तलाशी वारंटों’ को निष्पादित किया और कोहेन और उनके अपने मुवक्किलों के बीच ‘विशेष बातचीतों’ से जुड़ी सामग्री को जब्त कर लिया
भूकंप से दहला जापान, रिक्टर स्केल पर 6.1 तीव्रता मापी गई
9 April 2018
टोक्यो: पश्चिमी जापान में सोमवार को रिक्टर पैमाने पर 6.1 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए, जिसमें चार लोगों की मौत हो गई. जापान मौसम विज्ञान एजेंसी (जेएमए) के मुताबिक, भूकंप का झटका रात 1.32 बजे महसूस किया गया. भूकंप का केंद्र 35.2 डिग्री उत्तरी अक्षांश और 132.6 डिग्री पूर्वी देशांतर में दर्ज किया गया. शहर के कई हिस्सों में बिजली आपूर्ति ठप हो गई और पानी आपूर्ति भी बाधित रही. स्थानीय मीडिया के मुताबिक, इस भूकंप से कुछ इमारतों और सड़कों में दरारें आ गईं. हालांकि, क्षेत्र में सभी परमाणु संयंत्र सही से काम कर रहे हैं. इसके साथ ही सुनामी के खतरे का भी कोई अंदेशा नहीं है.
कैंब्रिज एनालिटिका के साथ करीब 8 करोड़ 70 लाख यूजर्स के आंकड़े साझा किए : फेसबुक
5 April 2018
वाशिंगटन: डेटा लीक मामले में फेसबुक ने बताया कि ब्रिटेन की राजनीतिक परामर्शदाता कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका के साथ करीब 8 करोड़ 70 लाख फेसबुक यूजर्स का निजी डेटा अनुचित रूप से कंपनी से साझा किया गया. यह पहले के पांच करोड़ के अनुमान से कहीं अधिक है. फेसबुक के प्रमुख तकनीकी अधिकारी माइक स्क्रोफर ने सोशल नेटवर्क के यूजर्स के लिए नया प्राइवेसी टूल लागू करने की घोषणा करते हुए एक बयान में यह जानकारी दी. उन्होंने कहा, ‘हमारा मानना है कि कुल मिलाकर फेसबुक पर 8 करोड़ 70 लाख लोगों की निजी जानकारी अनुचित रूप से कैंब्रिज एनालिटिका से साझा की गई. इनमें से ज्यादातर यूजर्स अमेरिका के थे. इस खुलासे से फेसबुक के लिए संकट बढ़ सकता है जो डोनाल्ड ट्रंप के 2016 के चुनावी अभियान के लिए काम कर रहे सलाहकारी समूह द्वारा निजी डेटा हैकिंग पर खुलासे के दबाव का सामना कर रहा है. फेसबुक इस मामले में जांच का सामना कर रहा है और उसके मुख्य कार्यकारी मार्क जुकरबर्ग मामले पर अगले सप्ताह संसदीय समिति के समक्ष गवाही देने के लिए राजी हो गए हैं. स्क्रोफर ने कहा कि आने वाले सोमवार से नए टूल्स से यूजर्स को प्राइवेसी और डेटा साझा करने की बेहतर समझ मिलेगी. फेसबुक ने अलग से बयान जारी कर कहा कि नए सेवा शर्तों से डेटा साझा करने और विज्ञापन किस तरह पहुचंते है, इसके बारे में तस्वीर स्पष्ट हो जाएगी. इन बदलावों से बाहरी व्यक्ति का यूजर डेटा तक पहुंचना मुश्किल हो जाएगा. स्क्रोफर ने बताया कि एक बदलाव ऐसा किया गया है जिससे फेसबुक सर्च के साथ किसीके एकदम सही लोकेशन का पता लगाने के लिए उसका फोन नंबर या ईमेल एड्रेस एंटरनहीं किया जा सकेगा
Youtube Headquarter में हुए हमले के बाद भावुक हुए सुंदर पिचाई, लिखा ये लेटर
4 April 2018
नई दिल्ली: यूट्यूब मुख्यालय (Youtube headquarter) में हुए हमले से सभी दुखी हैं. कैलिफोर्निया के सैन ब्रूनो स्थित यूट्यूब के मुख्यालय में गोलीबारी की घटना में एक की मौत हो गई और चार अन्य घायल हो गए. सैन फ्रांसिस्को से 19 किलोमीटर दूर स्थित सैन ब्रूनो शहर के पुलिस प्रमुख एड बरबेरिनी ने बताया कि संदिग्ध महिला हमलावर ने मंगलवार को यूट्यूब मुख्यालय परिसर में कई लोगों को घायल कर दिया और उसके बाद संभवत: उसने खुद को गोली मार ली. इस घटना के बाद गूगल के चीफ एग्जीक्यूटिव सुंदर पिचाई काफी दुखी हैं. उन्होंने ट्विटर पर एक भावुक लेटर पोस्ट किया है. पिचाई ने लेटर में लिखा- ''दोपहर में जब हमारे कर्मचारी लंच कर रहे थे तो ब्रूनो के ऑफिस में शूटर होने की खबर मिली. सुरक्षा टीम ने बिल्डिंग को खाली कराने का काम किया और लोगों को सुरक्षित जगह पर पहुंचाया. हमारे लिए अच्छी खबर तब आई जब पता चला कि स्थिति नियंत्रण में है. हमारी पूरी नजर घटना पर बनी हुई थी. हालही में आई ताजा खबर के मुताबिक मैं आपको बताना चाहता हूं कि इस घटना में 4 लोग घायल हुए हैं. हम इन लोगों को समर्थन देने के लिए सबकुछ करने को तैयार हैं. मैं आप सभी का आभारी हूं जो आपने कंपनी का समर्थन और प्रार्थना की. खासतौर पर सेक्यूरिटी टीम का जिन्होंने लोगों को सुरक्षित रखने का काम किया. मुझे पता है कि आप सभी काफी शॉक में हैं. मैं वादा करता हूं कि मैं गूगल परिवार के साथ खड़ा हूं और जो लोग घायल हुए हैं उनके घरवालों के साथ खड़ा हूं. आइए हम सब सुसान और यूट्यूब की पूरी टीम को सहयोग देते हैं. - सुंदर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर कहा कि उन्हें यूट्यूब मुख्यालय में गोलीबारी की जानकारी दी गई है. उन्होंने कहा, "कैलिफोर्निया के सैन ब्रूनो में यूट्यूब मुख्यालय में गोलीबारी की घटना की जानकारी मिली. हमारी संवेदनाएं और प्रार्थनाएं इस घटना के पीड़ितों के साथ हैं
फेसबुक डाटा लीक मामले पर बोले जकरबर्ग, दिक्कतों को दूर करने में लगेंगे कुछ साल
3 April 2018
वाशिंगटन: डेटा लीक मामले में आलोचना झेल रही फेसबुक और उसके मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जकरबर्ग ने कंपनी के कारोबारी मॉडल का बचाव करते हुए अपना पक्ष रखा. उन्होंने कहा कि उपयोगकर्ताओं के व्यक्तिगत डेटा हासिल करने से जो समस्याएं सामने आई उन्हें दूर करने में" कुछ साल" लगेंगे. समाचार साइट वॉक्स को दिए साक्षात्कार में जकरबर्ग ने कंपनी के कारोबारी मॉडल और एपल के सीईओ टिम कुक की ओर से की गई आलोचनाओं का बचाव किया. जकरबर्ग ने कहा कि फेसबुक की समस्याओं में से एक यह है कि वह" आदर्शवादी" है, उसने लोगों को जोड़ने के सकरात्मक पहलू पर ध्यान केंद्रित किया. हमने उपकरणों के नकरात्मक उपयोग को लेकर नहीं सोचा और उसमें समय नहीं खर्च किया।" उन्होंने कहा कि मेरा मानना है कि अब लोग जोखिमों और नकरात्मक पहलुओं पर भी ध्यान केंद्रित कर रहे हैं. फेसबुक सीईओ ने कहा, " मुझे लगता है हम इन दिक्कतों को दूर कर लेंगे, लेकिन इसमें कुछ साल लगेंगे. मैं चाहता हूं कि हम इन सब मुद्दों को तीन या छह महीने में सुलझा लें लेकिन यह सिर्फ मेरा मानना है और हकीकत यह है इन मुद्दों का समाधान करने के लिए अधिक समय की जरूरत है. जकरबर्ग ने एपल सीईओ टिम कुक की टिप्पणी का भी जवाब दिया। टिम ने कहा था कि फेसबुक का कारोबार मॉडल लोगों का डेटा बेचकर पैसे कमाने पर आधारित है, इसलिए उसे मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। जकरबर्ग ने कहा किउन्हें यह दलील सुनने को मिली कि अगर आप भुगतान नहीं कर रहे हैं तो हम आपकी परवाह नहीं करते हैं। इसका सच्चाई से कोई लेनादेना नहीं है। उन्होंने कहा, " हकीकत यह है जब आप ऐसी सेवा तैयार करते हैं, जो लोगों को आपस में जुड़ने में मदद करता है, तब ऐसे बहुत से लोग होते हैं जो पैसे नहीं चुका सकते हैं। ऐसे में विज्ञापन आधारित मॉडल की एकमात्र तर्कसंगत मॉडल है."
सोमालिया में अल शबाब के 22 आतंकवादी ढेर
2 April 2018
कंपाला: युगांडा की सेना द युगांडा पीपुल्स डिफेंस फोर्सेज (यूपीडीएफ) ने रविवार को अल शबाब के 22 आतंकवादी मार गिराए. समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने यूपीडीएफ के उप सैन्य प्रवक्ता कर्नल देओ अकीकी के बयान के हवाले से बताया, "सोमालिया में अफ्रीकी संघ मिशन (एएमआईएसओएम) के अंतर्गत सोमालिया में तैनात सेना ने आतंकवादियों को उस समय ढेर कर दिया जब वे सोमालिया के लोअर शेबेले क्षेत्र में क्यूरोयोल, बुलो मरीर और गोल्वेन स्थित एएमआईएसओएम के केंद्रों पर हमले करने का प्रयास कर रहे थे." बयान में कहा गया कि इस दौरान चार यूपीडीएफ सैनिकों की मौत हो गई और छह अन्य घायल हो गए. अकीकी ने कहा, "दो विस्फोटकों से लदे वाहनों समेत आतंकवादियों के आठ वाहनों को नष्ट कर दिया गया."
पाकिस्तान ने की तालिबान से सुलह प्रक्रिया में शामिल होने की अपील
30 March 2018
नई दिल्ली: पाकिस्तान ने अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के नवीनतम शांति प्रस्ताव के लिए अपने समर्थन को दोहराते हुए तालिबान से सुलह प्रक्रिया में शामिल होने का आग्रह किया. गनी ने पिछले महीने तालिबान को शांति प्रस्ताव दिया था जिसमें समूह को एक राजनीतिक दल के रूप में मान्यता देने, काबुल में एक कार्यालय खोलने, उसके सदस्यों को पासपोर्ट जारी करने और संयुक्त राष्ट्र की आतंकवादी ब्लैकलिस्ट से उसके वरिष्ठ कमांडरों के नाम को हटाने की पेशकश की गई थी. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने एक साप्ताहिक ब्रीफिंग में कहा, "पाकिस्तान, तालिबान से अपने सार्वजनिक बयानों और निजी संदेशों के माध्यम से शांति प्रक्रिया में शामिल होने का आग्रह कर रहा है. हमें लगता है कि यह एक साझा जिम्मेदारी है. पाकिस्तान को इस संबंध में अलग नहीं किया जा सकता है." उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने शांति के लिए गनी के प्रयासों का स्वागत और तालिबान के साथ शांति वार्ता के प्रस्ताव का समर्थन किया है.
टाइम मैगजीन: सबसे प्रभावशाली शख्सियतों के दावेदारों में पुतिन, ट्रंप और चिनफिंग को टक्‍कर दे रहे हैं पीएम मोदी
29 March 2018
न्यूयॉर्क : टाइम पत्रिका की 100 प्रभावशाली शख्सियतों की सूची में स्थान पाने के दावेदारों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, माइक्रोसॉफ्ट के भारतीय मूल के सीईओ सत्या नडेला, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमिर पुतिन और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग भी शामिल हैं. इस सूची में उन लोगों को स्थान दिया जाता है जो समसामयिक विश्व पर अपना प्रभाव डाल रहे हैं बीते एक दशक से भी अधिक समय से टाइम की प्रभावशाली शख्सियतों की सालाना सूची बनाई जाती रही है जिसमें दुनियाभर में अपने-अपने क्षेत्रों में उल्लेखनीय काम करने वाले कलाकारों, नेताओं, वैज्ञानिकों, कार्यकर्ताओं और उद्यमियों को जगह मिलती है. इस वर्ष की सूची की घोषणा अगले महीने की जाएगी. सूची में नाम शामिल करने के बारे में अंतिम फैसला टाइम के संपादकों का होता है, लेकिन पत्रिका ने पाठकों से इस वर्ष की सर्वाधिक प्रभावशाली शख्सियतों के बारे में ऑनलाइन वोट करने की अपील की है. मोदी का नाम वर्ष 2016 और 2017 में भी दावेदारों की सूची में शामिल था. टाइम के संपादकों ने वर्ष 2015 में 100 सर्वाधिक प्रभावशाली व्यक्तियों में उनका नाम शामिल किया था. पत्रिका के लिए पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने मोदी पर एक लेख लिखा था.
पहली विदेश यात्रा पर चीन पहुंचे किम जोंग ने शी जिनपिंग से की मुलाकात, परमाणु प्रसार रोकने का लिया संकल्प
28 March 2018
बीजिंग: उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन सत्ता में आने के बाद पहली बार विदेश यात्रा पर निकले हैं. उन्होंने अपनी पहली विदेश यात्रा के रूप में चीन को चुना और बीजिंग में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुलाकात की. यह जानकारी चीन की आधिकारिक न्यूज एजेंसी सिन्हुआ ने बुधवार को दी. किम जोंग की यह विदेश यात्रा ऐसे समय में हुई है जब सियोल और वाशिंगटन के साथ शिखर सम्मेलन प्रस्तावित है. बता दें कि वर्ष 2011 में सत्ता में आने के बाद यह उनकी पहली विदेश यात्रा है और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ प्रस्तावित शिखर सम्मेलन से पहले उन्होंने चीन के शीर्ष नेतृत्व के साथ वार्ता की. समचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, शी जिनपिंग के निमंत्रण पर रविवार से बुधवार तक की यात्रा पर आए किम जोंग ने चीनी राष्ट्रपति से बातचीत की. नॉर्थ कोरिया के तानाशाह के साथ उनकी पत्नी भी थीं और प्रतिनिधि मंडल भी, जिनके लिए भोज का आयोजन किया गया है. किम जोंग ने कहा कि 'हमने शी जिनपिंग के साथ दोनों देशों के बीच के संबंधों के विकास, हमारी घरेलू स्थिति, कोरियाई प्रायद्वीप पर शांति और स्थिरता को बनाए रखने के लिए और अन्य मुद्दों पर सफल बातचीत की.' उत्तरी कोरियाई नेता ने आगे कहा कि उनके लिए चीन की यात्रा "पवित्र कर्तव्य" के रूप में है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि उनका देश परमाणु मुक्त यानी परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए प्रतिबद्ध है. गौरतलब है कि चीन और उत्तरी कोरिया के बीच के संबंध में उस वक्त खटास आ गई थी, जब बीजिंग ने प्योंगयांग को मिसाइल और परमाणु परीक्षणों के लिए दंडित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों का समर्थन किया था. चीन लंबे समय से उत्तर कोरिया का सहयोगी रहा है लेकिन चीन द्वारा संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों को लागू करने के बाद से दोनों देशों के रिश्तों में तनाव पैदा हो गया है. अमेरिका के दबाव के बाद चीन ने उत्तर कोरिया को तेल और कोयला जैसी जरूरी चीजों की आपूर्ति रोक दी थी. वहीं, शी जिनपिंग ने कहा कि हम दोनों ने व्यक्तिगत रूप से चीन-डीपीआरके संबंधों के विकास के गवाह बने हैं और अनुभव किया है. शी ने किम से कहा कि हमारी पारंपरिक मित्रता आगे बढ़नी चाहिए और विकसित होनी चाहिए. उन्होंने कहा, 'हमारी रणनीतिक इच्छा है कि दोनो देशों के संबंध मजबूत हों
शॉपिंग मॉल में लगी आग को व्लादिमिर पुतिन ने आपराधिक लापरवाही बताया
27 March 2018
मॉस्को: साइबेरियाई मॉल में आग लगने के बाद मौके पर पहुंचे देश के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने आज कहा कि यह आपराधिक लापरवाही है. साइबेरिया के केमेरोवो शहर में स्थित शॉपिंग मॉल में लगी आग में 64 लोग मारे गये हैं. क्रेमलिन की ओर से जारी बयान के अनुसार, केमेरोवो में पुतिन ने अधिकारियों से कहा, ‘यहां क्या हो रहा है? यह सशस्त्र विद्रोह/ संघर्ष नहीं है. यह कोई अचानक हुआ मिथेन गैस का रिसाव नहीं है। लोग, बच्चे यहां आराम करने आये थे.’ उन्होंने कहा, ‘हम जनांकीकी की बात कर रहे हैं और इतने लोगों की जान जा रही है. किस कारण? सिर्फ किसी आपराधिक लापरवाही के कारण.
खत्म नहीं हो रहीं फेसबुक की मुश्किलें, अब एंड्रॉयड से फोन नंबर-मैसेज हासिल करने का आरोप
26 March 2018
नई दिल्ली: फेसबुक के लिए मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रहीं हैं, अमेरिकी और ब्रिटेन के समाचार पत्रों में कैम्ब्रिज एनालिटिका स्कैंडल पर माफी मांगने के बाद सोशल नेटवर्किंग साइट अब एंड्रॉएड उपकरणों से फोन नंबर तथा टेक्स्ट मैसेज हासिल करने को लेकर सवालों के घेरे में आ गई है. वेबसाइट‘ आरस टेक्निक’ की खबर के अनुसार फेसबुक द्वारा एकत्रित किया गया डेटा देखने पर यूजर्स ने पाया कि उसमें उनके वर्षों पुराने कॉन्टेक्ट, टेलीफोन नंबर, कॉल की अवधि और टेक्स्ट मैसेट हैं. फेसबुक ने कहा कि जानकारी सर्वर को सुरक्षित करने के लिए अपलोड की गई और यह केवल उन्हीं यूजर्स की है, जिसकी उन्होंने अनुमति दी है. प्रवक्ता ने बताया किइस डेटा को यूजर्स के मित्रों को अथवा किसी बाहरी को नतो बेचा गया न ही किसी के साथ साझा किया गया. कंपनी ने कहा कि उसने टेक्सट मैसेज या कॉल से जुड़ी सामग्री एकत्रित नहीं की. प्रवक्ता ने कहा कि फेसबुक मैसेंजर में कॉन्टेक्ट्स की रैंकिंग के लिए (ताकि उसे ढूंढना आसान हो जाए) और कॉल करने का सुझाव देने के लिए इन जानकारियों का इस्तेमाल किया गया फेसबुक ने ब्रिटेन, अमेरिका के अखबारों में माफीनामा दिया फेसबुक प्रमुख मार्क जुकरबर्ग ने डेटा चोरी के गंभीर आरोपों को लेकर ब्रिटेन और अमेरिका के नौ प्रमुख अखबारों में पूरे पेज का माफीनामा दिया है. उन्होंने बताया, ‘‘ आपकी जानकारियों की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी है. अगर हम नहीं कर पाते हैं तो हम इसके हकदार नहीं है.’’ ब्रिटेन के बड़े अखबारों‘ मेल ऑन संडे’, ‘ द संडे टाइम्स’ और‘ द ऑब्जर्वर’ के साथ- साथ‘ न्यूयॉर्क टाइम्स’, ‘ वाशिंगटन टाइम्स’ और‘ वॉल स्ट्रीट जर्नल’ में इन विज्ञापनों का प्रकाशन किया गया है. जुकरबर्ग ने कहा है कि एक शोधार्थी ने एक क्विज विकसित किया था‘ जिससे 2014 में करोड़ों लोगों के डेटा में सेंध लगी.’ उन्होंने कहा, ‘‘ यह विश्वास तोड़ने वाला था और हमें इस बात का खेद है कि हमने तब बहुत कुछ नहीं किया. भविष्य में ऐसा ना हो, इसे सुनिश्चित करने के लिए अब हम कदम उठा रहे हैं
दुनियाभर में भूख से मरने की कगार पर पहुंचने की वालों की संख्या 12 करोड़ 40 लाख
24 March 2018
नई दिल्ली: दुनियाभर में भूख के कारण मरने के कगार पर पहुंच गए लोगों की संख्या पिछले साल बढ़कर 12 करोड़ 40 लाख हो गई है. अगर इन लोगों को जल्द ही भोजन नहीं मिला तो इनकी मौत होने का खतरा है. संयुक्त राष्ट्र की खाद्य एजेंसी के प्रमुख डेविड बीसली ने यह जानकारी देते हुए बताया कि ऐसा इसलिए है क्योंकि लोग एक- दूसरे को गोली मारने से भी नहीं कतराते. टिप्पणियाउन्होंने वीडियो लिंक के जरिए कल सुरक्षा परिषद को बताया कि भूख से जूझ रहे तकरीबन तीन करोड़ 20 लाख लोग चार संघर्षरत देश सोमालिया, यमन, दक्षिण सूडान और उत्तर पूर्व नाइजीरिया में रह रहे हैं. इन देशों को पिछले साल अकाल की स्थिति से बचा लिया गया. विश्व खाद्य कार्यक्रम के कार्यकारी निदेशक ने कहाकि भूख और संघर्ष के बीच संबंध विध्वंसकारी है. संघर्ष से खाद्य असुरक्षा पैदा होती है और खाद्य असुरक्षा से अस्थिरता तथा तनाव उत्पन्न होता है जिससे हिंसा फैलती है. बीसली ने कहा कि वैश्विक रूप से लंबे समय से भूखे 81 करोड़ 50 लाख लोगों में से 60 फीसदी लोग संघर्षरत इलाकों में रहते हैं और उन्हें यह पता नहीं होता कि अगली बार खाना कहां से मिलेगा.
दक्षिण कोरिया : पूर्व राष्ट्रपति ली म्युंग बक के खिलाफ गिरफ्तारी का वारंट
23 March 2018
नई दिल्ली: दक्षिण कोरिया की अदालत ने गुरुवार को भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर पूर्व राष्ट्रपति ली म्युंग बक की गिरफ्तारी का वारंट जारी किया है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, सियोल सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने ली को हिरासत में लेने का फैसला किया है. हालांकि, ली ने सभी आरोपों से इनकार किया है. अदालत के फैसले के मुताबिक, इन आरोपों को नकारे जाने से सबूतों को नष्ट करने की संभावना बढ़ी है और ली के कई अपराध न्यायोचित ठहरे हैं. ली को पिछले सप्ताह पूछताछ के लिए समन किया गया था. सियोल सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट के अभियोजक कार्यालय ने सोमवार को घूस, गबन, कर चोरी सहित कई मामलों में उन्हें गिरफ्तार करने के लिए वारंट जारी करने का आग्रह किया था. टिप्पणिया हालांकि, ली ने अदालत में पेश होने से इनकार करते हुए कहा था कि वह अभियोजकों के समक्ष पहले ही अपना रुख स्पष्ट कर चुके हैं. अदालत ने अभियोजकों द्वारा पेश किए गए साक्ष्यों और गवाही के बाद गिरफ्तार करने का आदेश दिया।
फेसबुक डाटा लीक: मार्क जुकरबर्ग बोले- फेसबुक भारतीय चुनावों में दखलअंदाजी नहीं करने को लेकर पहले से ही प्रतिबद्ध है
22 March 2018
नई दिल्ली: फेसबुक डाटा लीक मामले में मार्क जुकरबर्ग ने अपनी कंपनी की गलती मान ली है. फेसबुक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जुकरबर्ग ने बुधवार को कहा कि उनकी कंपनी ने 5 करोड़ यूजर्स के डाटा को संभालने में गलती की है. साथ ही उन्होंने वादा किया कि इस तरह की सूचनाओं तक डेवलपर्स की पहुंच को रोकने के लिए हम कड़े कदम उठाएंगे. फेसबुक डाटा लीक विवाद सामने आने के बाद पहली बार अपने सार्वजनिक बयान में जुकरबर्ग ने अपने फेसबुक पोस्ट के जरिये कहा कि कैंब्रिज एनालिटिका कंपनी द्वारा किये गये धोखाधड़ी के लिए फेसबुक हजारों एप्प की जांच करेगा. सफाई देते हुए जुकरबर्ग ने लिखा कि लोगों के डेटा सुरक्षित रखना हमारी ज़िम्मेदारी है और अगर हम इसमें फ़ेल होते हैं तो ये हमारी ग़लती है. साथ ही उन्होंने कहा कि कंपनी से गलती हुई है. कंपनी ने इस मामले में अभी तक कई कदम उठाए हैं और आगे इस तरह की घटना न हो, इसके लिए अभी तेज गति से कदम उठाने की जरूरत है. दुनिया की सबसे बड़ी सोशल मीडिया नेटवर्क वाली कंपनी फेसबुक यूरोप और अमेरिका के अलावा भारत में इस डाटा चोरी पर घिरती नजर आ रही है. इतना ही नहीं, यूरोप और अमेरिका में इन आरोपों की पड़ताल भी शुरू कर दी है. जुकरबर्ग ने कैम्ब्रिज एनालिटिका के मामले में अपनी गलती को कबूला है. दरअसल, फेसबुक को आलोचना का सामना इसलिए करना पड़ रहा है, क्योंकि एक ब्रिटिश कन्सल्टिंग कंपनी कैम्ब्रिज एनालिटिका (Cambridge Analytica) पर आरोप लगा है कि उसने पांच करोड़ फेसबुक यूज़रों का डाटा बिना अनुमति के जमा किए और उस डेटा का इस्तेमाल राजनेताओं की मदद करने के लिए किया, जिनमें अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का चुनावी कैंपेन शामिल हैं. कैंब्रिज एनालिटिका ने अमेरिकी मतदाताओं पर प्रोफाइल बनाने के लिए अनुचित रूप से उपयोगकर्ता की जानकारी का उपयोग किया, और बाद में 2016 में इस्तेमाल कर कंपनी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को जीताने में मदद की. अपने फेसबुक पेज पर लिखे एक पोस्ट में जुकरबर्ग ने कहा कि वह उन हज़ारों एप्लिकेशन की जांच करेगा जिसका इस्तेमाल उस वक्त बड़ी संख्या में डे किया गया. उन्होंने कहा कि फेसबुक अपने यूजर्स को एक नया टूल देगा कि ताकि उन्हें पता चले कि उनके डेटा का इस्तेमाल कैसे किया जा रहा है, साझा किया जा रहा है, और आगे से डेवलपर्स के दुरुपयोग को रोकने के लिए डेटा तक उसके पहुंच को प्रतिबंधित कर देगा. बाद में जुकरबर्ग ने सीएनएन से कहा कि यह बहुत बड़ी धोखाधड़ी है. मुझे सच में खेद है कि यह हुआ. लोगों के डाटा की रक्षा करना हमारी मूल जिम्मेदारी है. उन्होंने सीएनएन को बताया कि फेसबुक ने पहले से ही यह तय कर रखा है कि अमेरिका में नवंबर में हुए मध्यावधि चुनाव, और भारत और ब्राजिल में होने वाले चुनावों में किसी तरह से हस्तक्षेप नहीं करेगा. फेसबुक पोस्ट में जुकरबर्ग ने लिखा कि लोगों के डेटा को सुरक्षित रखना हमारी जिम्मेदारी है, अगर हम इसमें फेल होते हैं तो ये हमारी गलती है. उन्होंने कहा कि हमने इसको लेकर पहले भी कई कदम उठाए थे, हालांकि हमसे कई गलतियां भी हुईं लेकिन उनको लेकर काम किया जा रहा है. उन्होंने लिखा कि फेसबुक को मैंने शुरू किया था, इसके साथ अगर कुछ भी होता है तो इसकी जिम्मेदारी मेरी ही है. हम अपनी गलतियों से सीखने की कोशिश करते रहेंगे, हम एक बार फिर आपका विश्वास जीतेंगे. हालांकि, उन्होंने कहा कि कैंब्रिज एनालिटिका से जुड़े इस विशेष मुद्दे को आज के नए ऐप के साथ नहीं होना चाहिए, मगर अतीत में जो हुआ, उसे बदला नहीं जा सकता. उन्होंने कहा कि इस अनुभव से हम अपने मंच को आगे सुरक्षित करने के लिए सबक लेंगे और अपने फेसबुक समुदाय के प्रत्येक व्यक्ति के लिए अधिक सुरक्षित बनाएंगे. जुकरबर्ग ने विशेष रूप से कहा कि कंपनी फेसबुक डाटा को प्रतिबंधित करेगी और थर्ड पार्टी डेवलपर्स सिर्फ नाम, प्रोफाइल फोटो और इमेल एड्रेस एक्सेस कर सकेंगे. साथ ही डेवलपर्स को अपने पोस्ट्स के अधिकार के लिए फेसबुक यूजर्स से पूछने से पहले एक कॉन्ट्रैक्ट साइन करने की जरूरत होगी. कंपनी प्रत्येक फेसबुक यूजर्स के न्यू फीड के टॉप पर एक नया फीचर पोस्ट करेगा जो, ऐप की पहुंच को रद्द करने का एक आसान तरीका होगा. अपने फेसबुक पोस्ट में जुकरबर्ग ने पूरे मामले की टाइमलाइन को समझाया. जुकरबर्ग ने लिखा कि 2007 में हमने फेसबुक में कई तरह की चीज़ों को अपडेट किया. इसमें दोस्तों के जन्मदिन, एड्रेस बुक, मैप्स जैसे कई एप्स शामिल थे. इसके लिए हमने फेसबुक यूज़र से कुछ जानकारी ली, जिसमें उनके दोस्त कौन हैं जैसी जानकारी शामिल थी. 2013 में कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के रिसर्चर एलेक्जेंडर कोगन ने एक पर्सनल क्विज़ एप्प बनाया. जिसे करीब 3 लाख लोगों ने इंस्टॉल किया, इसमें कुछ पर्सनल डेटा का भी उपयोग किया गया. इससे ना सिर्फ उन तीन लाख लोगों का डाटा शेयर हुआ बल्कि उनके कई दोस्तों का भी हुआ. टिप्पणियाजुकरबर्ग ने लिखा कि 2014 में हमने एप्स और डेटा शेयरिंग के तरीकों को पूरी तरह से बदल दिया. जिसके बाद अगर कोई अन्य एप किसी यूजर का डेटा मांगती है, तो उसे पहले यूजर से पूछना पड़ेगा. लेकिन 2015 में एक अखबार की रिपोर्ट से पता लगा कि कोगन ने ये डाटा कैंब्रिज एनालिटका कंपनी के साथ शेयर किया है. जो कि नियमों के खिलाफ था. जिसके बाद हमने तुरंत ही कोगन की एप्लिकेशन को फेसबुक से बैन कर दिया. हमने कोगन और कैंब्रिज एनालिटका से सभी यूजर्स का डेटा डिलीट करने को कहा और इसका सर्टिफिकेट देने को भी कहा. गौरतलब है कि भारत सरकार ने सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक को चुनाव प्रक्रिया को प्रभावित करने की सूरत में कड़ी कार्रवाई के लिए तैयार रहने को कहा है. भारत ने कहा कि फेसबुक सहित कोई भी सोशल नेटवर्किंग साइट यदि अनुचित तरीके से देश की चुनाव प्रक्रिया को प्रभावित करने का प्रयास करती है, तो उसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. रविशंकर प्रसाद ने कहा कि आईटी कानून के तहत हम नियमों का उल्लघंन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने से भी पीछे नहीं हटेंगे. अगर जरूरत पड़ी तो इस मामले में फेसबुक के मुख्य अधिकारी मार्क जुकरबर्ग को भारत में समन भी किया जा सकता है.
अफगानिस्तान में बड़ा बम धमाका: काबुल यूनिवर्सिटी के नजदीक विस्फोट में 26 की मौत
21 March 2018
काबुल: अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में बड़ा बम धमाका हुआ है. अफगानिस्तान में नये वर्ष के जश्न के बीच राजधानी काबुल में हुए आज आत्मघाती हमले में 26 लोग मारे गये हैं जबकि 18 अन्य घायल हो गये हैं. एक अधिकारी ने बताया कि यह हादसा उस समय हुआ जब राजधानी में लोग पारसी नये वर्ष की छुट्टी माना रहे थे. अभी यह जानकारी अफगानिस्तानी मीडिया के हवाले से मिल रही है. बताया जा रहा है कि मरने वालों की संख्या और बढ़ सकती है. बताया जा रहा है कि यह विस्फोट ऐसे वक्त में हुआ है, जब अफगानिस्तान की राजधानी में लोग नवरोज मना रहे थे. बता दें कि नवरोज फारसी में नये साल के शुरुआत का पहला दिन होता है. गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि काबुल में एक आत्मघाटी हमलावर ने मस्जिद के निकट खुद को उड़ा लिया.
अमेरिका में सेल्फ ड्राइविंग कार ने महिला को कुचला, इस तकनीक से मौत का पहला मामला आया सामने
20 March 2018
सैन फ्रांसिस्को: अमेरिका के अरिजोना में सेल्फ ड्राइविंग कार से पहला हादसा होने का मामला सामने आया है. दरअसल, अरिजोना में सेल्फ ड्राइविंग ऊबर ने एक महिला को कुचल दिया, जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई. पुलिस ने बताया कि फिलहाल ऊबर ने अपने इस ट्रायल प्रोग्राम को पूरे यूनाइटेड स्टेट और कनाडा में सस्पेंड कर दिया है. बताया जा रहा है कि अरिजोना के टेंपी में सेल्फ ड्राइविंग कार से हुआ यह हादसा इस तरह का पहला है. जिस गाड़ी से यह हादसा हुआ, वह ऊबर की सेल्फ ड्राइविंग टैक्सी थी, जो ट्रायल पर थी और इसका वैश्विक स्तर पर अभी टेस्ट किया जा रहा है. हालांकि, यह हादसा संयुक्त राज्य अमेरिका में नई तकनीक की शुरुआत को फास्ट ट्रैक करने के प्रयासों को पटरी से उतार सकता है पुलिस के मुताबिक, जिस वक्त यह हादसा हुआ, उस दौरान कार ऑटोमेटिक मोड में थी. वहीं, व्हीकल ऑपरेटर पीछे चल रहा था. कार नॉर्थ की ओर जा रही थी, उसी वक्त एक महिला रोड पार कर रही थी, जो गाड़ी की चपेट में आ गई. हालांकि, इस हादसे को लेकर यह स्पष्ट नहीं है कि यह रविवार की रात की घटना है या सोमवार की. ऊबर टेक्नॉलॉजीज के प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी नॉर्थ अमेरिका में अपने टेस्ट को सस्पेंड कर रही है. साथ ही कंपनी ने एक ट्वीट में कहा कि हमें मृत महिला के परिजनों के प्रति पूरी संवेदना है और हम अथॉरिटीज के साथ संपर्क में बने हुए हैं और पुलिस की जांच में भी सहयोग कर रहे हैं.
चुनाव में रिकॉर्ड जीत के साथ ही चौथी बार रूस के राष्ट्रपति बने व्लादिमिर पुतिन
19 March 2018
नई दिल्ली: रूस के राष्ट्रपित व्लादिमिर पुतिन ने रिकॉर्ड मतों के अंतर से एक बार फिर आम चुनाव में जीत दर्ज की है. इस जीत के साथ ही वह लगातार चौथी बार देश के राष्ट्रपति बनने जा रहे हैं. जीत के बाद वह अगले छह वर्षों तक बतौर राष्ट्रपति अपनी सेवाएं दे पाएंगे. पुतिन ने इस जीत बाद देशवासियों के जीवनस्तर में सुधार लाने और देश की रक्षा प्रणाली को और मजबूत बनाने का दावा किया है. पुतिन अब 2024 तक देश के राष्ट्रपति के तौर पर अपनी सेवाएं जारी रखेंगे. गौरतलब है कि चुनाव परिणाम आने से पहले एग्जिट पोल मे भी पुतिन को अन्य उम्मीदवारों से काफी आगे बताया जा रहा था. एग्जिट पोल में पुतिन को अन्य उम्मीदवारों की तुलना में कुल 73.9 फीसदी वोट दिए गए थे. इसके बाद से पुतिन के एक बार फिर राष्ट्रपति बनने की चर्चाएं तेज हो गई थीं. रूस के करीब 1200 मतदान केंद्रों से आंकड़ों को जुटाकर किए गए इस एग्जिट पोल में कम्यूनिस्ट उम्मीदवार पावेल ग्रुडिनिन को 11.2 फीसदी वोटों के साथ दूसरे स्थान पर दिखाया गया था. आखिरकार इस बात की औपचारिक घोषणा रविवार को कर दी गई। रूस की सेंट्रल इलेक्शन कमिशन ने चुनाव में आंशिक रूप से कुछ गड़बड़ियां होने की बात कही लेकिन कुल मिलाकर कमिशन ने इस चुनाव को समान्य प्रक्रिया के तहत हुआ चुनाव ही माना. पुतिन समर्थक पुतिन की इस जीत के लिए उनकी पश्चिमी देशों के प्रति उनके रुख और फैसले को जिम्मेदार मानते हैं. चुनाव परिणाम आने के बाद एक सांसद ने कहा कि चुनाव परिणाम आने के बाद अब यूनाइटेड स्टेट्स और ब्रिटेन भी इस बात को अच्छी तरह से समझ चुके होंगे कि वह किसी तरह भी तरह से हमारे देश में होने वाले चुनाव को प्रभावित नहीं कर सकते हैं.
अफगानिस्तान में हवाई हमलों में 35 आतंकवादी ढेर, शामिल थे 7 विदेशी लड़ाके
17 March 2018
नई दिल्ली: अफगानिस्तान के उत्तरी जोजान प्रांत में (आईएस) के ठिकानों पर हवाई हमलों में 35 आतंकवादी ढेर हो गए. सेना के प्रवक्ता मोहम्मद हनीफ रेजाई ने सिन्हुआ को बताया,"कुश टेपा और दरजाब जिले में आईएस के ठिकानों पर तड़के 4.45 बजे किए गए हवाई हमलों में 35 आतंकवादियों को मार गिराया गया, जिसमें सात विदेशी लड़ाके थे. इसके साथ ही 13 आतंकवादी घायल हुए हैं." आतंकवादी संगठन आईएस ने अभी इस पर किसी तरह की प्रतिक्रिया नहीं दी है. पिछले महीने अफगानिस्तान के नंगरहार प्रांत में आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के ठिकानों पर सुरक्षा बलों के हवाई हमलों में 17 आतंकी मारे गए थे. प्रांतीय प्रशासनिक प्रवक्ता अताउल्लाह खोगियानी ने कहा कि सुरक्षा बलों ने खुफिया रिपोर्टों के आधार पर कार्रवाई की थी. उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों ने हसका मीना और अचिन जिलों में अभियान चलाया और आतंकी ठिकानों व उनके हथियारों के जखीरों को नष्ट कर 17 विद्रोहियों को मार गिराया. आईएस की तरफ से अभी तक कोई टिप्पणी नहीं आई है.
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार को किया हटाने का फैसला : मीडिया रिपोर्ट
16 March 2018
नई दिल्ली: एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एचआर मैकमास्टर को हटाने का फैसला किया और वह संभावित बदलाव को लेकर चर्चा कर रहे हैं. वाशिंगटन पोस्ट’ ने बीती रात अपनी एक प्रमुख रिपोर्ट में बताया कि ट्रम्प मैकमास्टर को हटाने पर अब‘‘ सहमत’’ हो गये हैं. निजी तौर पर मैकमास्टर के साथ उनके संबंध प्रगाढ़ नहीं रहे हैं. लिहाजा इस कदम को मूर्त रूप देने से पहले वह कुछ समय लेना चाहते हैं ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि तीन सितारा से सजे सेना के जनरल अपमानित नहीं महसूस करें और उनकी जगह किसी मजबूत अधिकारी को लाया जा सके. बहरहाल, व्हाइट हाउस की प्रवक्ता सारा सैंडर्स ने इन रिपोर्टों को खारिज करते हुए कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद(एनएससी) में कोई बदलाव नहीं होने जा रहा है. वहीं राष्ट्रपति की योजना से अवगत पांच सूत्रों के हवाले से अखबार ने लिखा, ‘‘ यह हलचल ट्रम्प के विचाराधीन व्यापक संभावित बदलावों के तहत हो रही है. इनमें व्हाइट हाउस के वरिष्ठ अधिकारियों को शामिल किये जाने की संभावना है. भय और अनिश्चितता की गिरफ्त में मौजूद ये कर्मचारी बिना सोचे समझे निर्णय लेने वाले उस राष्ट्रपति के अगले कदम की प्रतीक्षा कर रहे हैं, जिन्हें विवाद भड़काने में आनंद आता है.’’ रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए सारा ने कहा, ‘‘अभी अभी राष्ट्रपति एवं मैकमास्टर से बात हुई. रिपोर्ट के उलट उनके बीच बेहद मधुर कामकाजी संबंध हैं और एनएससी में कोई बदलाव नहीं होने जा रहा है.’’ एनएससी व्हाइट हाउस की एक शक्तिशाली शाखा है जो प्रशासन के राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंडे को चलाती है. अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक राष्ट्रपति ने शिकायत की कि मैकमास्टर बिल्कुल लचीला नहीं हैं और उनकी ब्रीफिंग बहुत लंबी हो जाती है जो अप्रासंगिक प्रतीत होती है. अखबार के अनुसार मैकमास्टर की जगह लेने वाले व्यक्तियों में कई नाम उभरकर सामने आ रहे हैं. इनमें संयुक्त राष्ट्र में पूर्व अमेरिकी दूत जॉन बोल्टन एवं राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के चीफ ऑफ स्टाफ कीथ केलॉग के नाम शामिल हैं
सिंगापुर की कंपनियों ने अवैध रूप से उत्तर कोरिया को आपूर्ति की : संयुक्त राष्ट्र
13 March 2018
नई दिल्ली: संयुक्त राष्ट्र की एक मसौदा रिपोर्ट में कहा गया है कि सिंगापुर की दो कंपनियों ने उत्तर कोरिया को लग्जरी सामान की आपूर्ति कर प्रतिबंधों का उल्लंघन किया है. बीबीसी के मुताबिक, इस मामले में अंतिम रिपोर्ट संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को सौंप दी गई है और इस सप्ताह के अंत तक इसके प्रकाशित होने की संभावना है. लीक हुए रिपोर्टों में आरोप लगाया गया है कि दोनों कंपनियों ओसीएन और टी स्पेशलिस्ट ने उत्तर कोरिया को शराब एवं स्पिरिट सहित लग्जरी सामानों की आपूर्ति की है संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध के तहत 2006 से उत्तर कोरिया को किसी भी तरह के लग्जरी सामान बेचना अवैध है और सिंगापुर के नियमों के तहत भी कई वर्षो से उत्तर कोरिया को इन सामानों को बेचना प्रतिबंधित है. दोनों सहयोगी कंपनियां हैं और इन्होंने किसी भी तरह की अवैध गतिविधियों से इनकार किया है. बीबीसी के मुताबिक, संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में इस बात का भी दावा किया है कि 2011 से 2014 के बीच उत्तर कोरिया में 20 लाख डॉलर से अधिक सामान की बिक्री हुई. कंपनियों के वकील एडमंड पेरेइरा ने इस बात की पुष्टि की है कि सिंगापुर के अधिकारी इस मामले की जांच कर रहे है, लेकिन उन लोगों ने जोर देते हुए काह कि वर्तमान में उत्तर कोरिया से उनका कोई वित्तीय संबंध नहीं है.
Nepal plane crash Updates: नेपाल में आपात स्थिति में उतरे बांग्लादेश के विमान में आग लगी
12 March 2018
मुंबई: नेपाल के त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर सोमवार को आपात स्थिति में उतरे यूएस- बांग्ला एअरलाइन के एक विमान में आग लग गई जिसमें 67 यात्री और चालक दल के चार लोग सवार थे. अभी तत्काल यह पता नहीं चल पाया है कि घटना में कोई हताहत हुआ है या नहीं. बांग्लादेश के इस विमान में 67 यात्री और चालक दल के चार लोग सवार थे. त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे (टीआईए) पर उतरते समय विमान रनवे से फिसल गया. यूएस-बांग्ला एयरलाइन का एक विमान सोमवार को नेपाल के त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे (टीआईए) पर उतरने के बाद रनवे से फिसलकर दुर्घटनाग्रस्त हो गया जिसमें कम से कम 50 लोगों की मौत हो गई. त्रिभुवन हवाईअड्डे के प्रवक्‍ता ने बताया, 'हम आग पर काबू पाने की कोशिश कर रहे हैं. विस्‍तृत विवरण की प्रतीक्षा है.' उन्‍होंने साथ ही बताया कि 'एयरपोर्ट को फिलहाल बंद कर दिया है और अन्‍य सभी विमानों को डाइवर्ट कर दिया गया है. हम लोग फिलहाल यात्रियों को बाहर निकालने पर ध्‍यान दे रहे हैं.' पहाड़ी देश नेपाल विमान दुर्घटनाओं के लिए कुख्‍यात है. यहां के प्रांतीय हवाई पट्टियों पर अक्‍सर छोटे विमान मुश्किल में पड़ जाते हैं. 1992 में बैंकॉक से काठमांडू पहुंचा थाई एयरवेज का विमान उतरते वक्‍त दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया था. उस दुर्घटना में विमान में सवार सभी लोगों की मौत हो गई थी. अधिकारियों ने बताया कि काठमांडू एयरपोर्ट पर दुर्घटनास्‍थल से कुछ शव निकाले गए हैं. यूएस-बांग्‍ला एयरलाइंस यूएस-बांग्‍ला समूह का एक भाग है जो कि अमेरिका और बांग्‍लादेश का संयुक्‍त उद्यम है. बांग्‍लादेशी एयरलाइंस ने जुलाई 2014 से सेवाएं शुरू की थीं और यह बॉमबर्डियर इंक और बोइंग कंपनी के विमानों का इस्‍तेमाल करती है. काठमांडू हवाई अड्डे पर क्रैश हुए यूएस-बांग्‍ला एयरलाइंस के विमान से उठता धुआं साफ देखा जा सकता था. हादसे के बाद टीआईए से जाने वाली और यहां आने वाली सभी उड़ानों को रोक दिया गया है. विमान ने ढाका से उड़ान भरी थी और स्थानीय समयानुसार अपराह्न दो बजकर 20 मिनट पर यह हवाईअड्डे पर उतरा. काठमांडो पोस्ट ने टीआईए के प्रवक्ता प्रेमनाथ ठाकुर के हवाले से कहा कि उतरते समय रनवे पर डगमगाने के बाद विमान में आग लग गई और यह हवाईअड्डे के पास स्थित फुटबाल मैदान में जाकर दुर्घटनाग्रस्त हो गया. अधिकारियों ने बताया कि विमान में सवार कम से कम 17 लोगों को बचा लिया गया. टीआईए के प्रवक्ता प्रेम नाथ ठाकुर ने कहा कि लैंडिंग के दौरान संतुलन बिगड़ने के कारण विमान हवाईअड्डे के पास स्थित एक फुटबॉल मैदान पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया और उसमें आग लग गई. नेपाल के त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे (टीआईए) पर सोमवार को अमेरिका-बांग्ला एयरलाइंस का एक विमान लैंडिंग करते समय दुर्घटनाग्रस्त हो गया.
अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में नहीं की है कोई दखलंदाजी : रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन
10 March 2018
नई दिल्ली: रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने एक साक्षात्कार में कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में अगर किसी रूसी नागरिक ने दखल किया तो इससे उनका कोई लेना देना नहीं है. उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि इस तरह के प्रयासों को क्रेमलिन से जोड़कर नहीं देखा जा सकता. गौरतलब है कि अमेरिका में साल 2016 में राष्ट्रपति चुनावों में रूसी हस्तक्षेप के आरोप लगे हैं और इनकी जांच हो रही है. पुतिन का यह साक्षात्कार कल‘ एनबीसी’ टेलीविजन पर प्रसारित हुआ था. उन्होंने कहा, ‘‘ आखिर आपने यह कैसे तय कर लिया कि मैंने और किसी रूसी अधिकारी ने इसे करने की इजाजत दी होगी.’’ स्पेशल काउंसिल रॉबर्ट मुलर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के चुनाव प्रचार अभियान में रूसी साठगांठ के आरोपों की व्यापक जांच कर रहे हैं. आरोप है कि ट्रंप को राष्ट्रपति बनाने में रूस की मदद ली गयी थी. पिछले महीने मुलर ने 13 रूसी नागरिकों और तीन रूसी कंपनियों पर आरोप लगाया था कि उन्होंने ट्रंप के चुनाव प्रचार अभियान का कथित रूप से समर्थनकिया, उनकी डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी हिलेरी क्लिंटन की छवि धूमिल की और चुनावी प्रक्रिया में दखल दिया था. इन आरोपों पर पुतिन ने कहा, ‘‘ अगर वे रूसी नागरिक हैं तो इससे क्या हुआ?’’ पुतिन ने कहा, ‘‘14.6 करोड़ रूसी नागरिक हैं. तो क्या हुआ? मुझे कोई परवाह नहीं. मेरा इससे क्या लेना देना हो सकता है. वे तो रूसी राज्य के हितों का प्रतिनिधित्व भी नहीं करते.’’उन्होंने कहा, ‘‘ क्या हमने अमेरिका पर प्रतिबंध लगाया है? लेकिन अमेरिका ने तो हम पर प्रतिबंध लगाया.
तुर्की ने शुरू की 2016 में तख्तापलट की साजिश में शामिल 121 संदिग्धों की तलाश
9 March 2018
नई दिल्ली: तुर्की ने 2016 में तख्तापलट की साजिश में शामिल प्रतिबंधित संगठन से जुड़े 121 संदिग्धों की तलाश शुरू कर दी है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने स्थानीय मीडिया रिपोर्टों के हवाले से बताया कि ये तलाशी अभियान 29 प्रांतों में शुरू की गई और अब तक 33 संदिग्धों को हिरासत में ले लिया गया है. जिन लोगों को हिरासत में लिया गया है, उनमें गुलेन नेटवर्क के नेता फेतुल्ला गुलेन की भतीजी फतमनूर गुलेन भी है. इसके साथ ही इस तख्तापलट की कोशिश का कथित मास्टरमाइंड आदिल ओकसूज की रिश्तेदार बिल्किस नूर तेतिक है. तुर्की ने 2016 के सैन्य तख्तापलट के असफल प्रयास के लिए गुलेन नेटवर्क को जिम्मेदार ठहराया था. इस दौरान 250 लोगों की मौत हो गई थी और लगभग 2,200 घायल हो गए थे. कौन हैं धर्मगुरु फेतुल्ला गिलेन र्की में हुई तख्तापलट की कोशिश के लिए जिम्मेदार ठहराए जा रहे अमेरिका में बसे हुए धर्मगुरु फेतुल्ला गिलेन के अपने खुद के देश तुर्की में काफी बड़ी संख्या में समर्थक हैं. उनके समर्थकों में पुलिस और न्यायपालिका के लोग भी शामिल हैं. बता दें कि बेहद प्रभावशाली मुस्लिम धर्मगुरु अमेरिका के पेनसिल्वानिया में पोकोनो पर्वत इलाके में रह रहे हैं. 75 साल के गिलेन कभी राष्ट्रपति एर्दोग़ान के करीबी थे लेकिन पिछले कुछ सालों में दोनों के बीच दरार आ गई. एर्दोग़ान को शक्तिशाली 'गिलेनिस्ट मूवमेंट' के तुर्की समाज में मौजूदगी का शक होने लगा था जिसमें मीडिया और पुलिस व जुडिशरी के शामिल होने को लेकर भी उन्हें अंदेशा था. 1999 में गिलेन अमेरिका आ गए। इसके बाद ही उन पर तुर्की में देशद्रोह का मुकदमा चलाया गया। इसके बाद से गिलेन ने सार्वजनिक जीवन से एकदम खुद को अलग कर लिया। वह जनता के बीच बमुश्किल देखे जाते। कोई इंटरव्यू भी नहीं देते. जब बढ़ गई थी दुश्मनी साल 2013 के आखिर में इन दोनों शीर्ष स्तंभों के बीच की शत्रुता एकदम मुखर हो गई थी. यह तब हुआ जब न्यायिक अधिकारी जो गिलेन के करीब समझे जाते थे, पर करप्शन के चार्ज लगे। इन आरोपों में गिलेन के बेहद करीबी जिनमें उनके बेटे बिलाल भी शामिल थे, की ओर भी इशारा था. एर्दोगान ने जवाबी कार्रवाई करते हुए सैंकड़ों आर्मी अधिकारियों को निकाल दिया. इनमें कई टॉप जनरल भी शामिल थे. गिलेन आंदोलन 'हिज्मत' (Hizmet) द्वारा चलाए जाने वाले कई स्कूलों को बंद कर दिया गया. कई पुलिस अधिकारियों को भी नौकरियों से निकाल दिया गया.
अमेरिका में बर्फीले तूफान ने दी दस्तक, 2,600 से कई उड़ानें प्रभावित
8 March 2018
न्यूयॉर्क: अमेरिका के पूर्वी तट पर एक सप्ताह से भी कम समय में दूसरी बार बुधवार को बर्फीले तूफान ने दस्तक दी, जिस वजह से 2,600 से अधिक उड़ान सेवाएं प्रभावित हुईं. एनबीसीन्यूज डॉट कॉम के मुताबिक, तूफान के दौरान क्षेत्र में बिजली कड़कने की आवाजें सुनाई देती रही. फिलाडेल्फिया से न्यूयॉर्क सिटी तक बिजली आपूर्ति ठप होने से लगभग पाचं करोड़ लोग प्रभावित हुए. रिपोर्ट के मुताबिक, न्यूजर्सी के माध्यमिक स्कूल की एक शिक्षिका बिजली गिरने की घटना का शिकार हुई लेकिन सकुशल बच गई. सीबीएसन्यूज डॉट कॉम के मुताबिक, अधिकारियों ने लोगों से घर में ही रहने का आग्रह किया है. राष्ट्रीय मौसम सेवा ने गुरुवार सुबह तूफान की चेतावनी जारी की है. मौसम विभाग का कहना है कि पेंसिल्वेनिया, न्यूजर्सी और न्यूयॉर्क सिटी में एक फीट या उससे ज्यादा बर्फबारी हो सकती है. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, न्यूयॉर्क सिटी में आठ से 12 इंच तक बर्फबारी हो सकती है. बॉस्टन, फिलाडेल्फिया, न्यूयॉर्क, नेवार्क और न्यूजर्सी हवाईअड्डों पर 2,600 से अधिक उड़ान सेवों रद्द कर दी गई है.
तालिबान शांति वार्ता के लिए तैयार नहीं लग रहा : अमेरिका
28 February 2018
वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन ने आज कहा कि तालिबान इस वक्त शांति वार्ता के लिए तैयार नहीं लग रहा है. साथ ही प्रशासन ने इस बात पर जोर दिया कि इस तरह की कोई भी बातचीत अफगानिस्तान के नेतृत्व में या उसके द्वारा होनी चाहिए. एक तरीके से ट्रंप प्रशासन ने तालिबान के साथ सीधी वार्ता की संभावना से इंकार किया. अमेरिका को लिखे एक पत्र में इस आंतकी संगठन (तालिबान) ने वार्ता की बात कही थी. विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हीथर नोर्ट ने कहा, “हमने यह पत्र देखा है और हमें इसकी जानकारी है. किसी भी तरह की शांति वार्ता अफगानिस्तान के नेतृत्व में या अफगानिस्तान की ओर से ही होनी चाहिए.” उन्होंने कहा कि “दुर्भाग्य से” तालिबान इस वक्त साथ बैठने और शांति वार्ता के लिए तैयार नहीं लग रहा है. तालिबान के पत्र पर पूछे गए सवाल के जवाब में हीथर ने कहा, “हमें लगता है कि अंतत: वह तैयार हो जाएंगे क्योंकि अफगानिस्तान में शांति स्थापित करने का यही सबसे अच्छा तरीका है.” साथ ही उन्होंने कहा कि हमें नहीं लगता कि अफगानिस्तान की स्थिति का कोई सैन्य समाधान होगा और अंतत: इस मसले को राजनीतिक तरीके से सुलझाया जाना चाहिए.
हार्ले डेविडसन का जिक्र कर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर भारतीय आयात नीति पर किया हमला
27 February 2018
वाशिंगटना: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर भारत की अर्थ नीति पर सवाल उठाया है. उन्होंने अमेरिकी गवर्नर्स की बैठक में कहा कि भारत से बाइक जब हमारे यहां आती है तब हमें कुछ नहीं मिलता. लेकिन जब हमारे यहां से बाइक भारत जाती है तब हमें 100 फीसदी टैक्स देना पड़ता है. बता दें कि एक हफ्ते के भीतर अमेरिकी राष्ट्रपति का इस प्रकार से यह दूसरा बयान है. माना जा रहा है कि अमेरिका की ओर से भारत पर यह दबाव बनाने की कोशिश है कि वह अपने आयात नीति में बदलाव करें और टैक्स दरों को घटाए. इतना ही नहीं, उन्होंने चेतावनी भी दी कि यदि भारत ऐसा नहीं करता तब अमेरिका भी अपने यहां पर शुल्क लगाने पर विचार कर सकता है. अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि भारत की नीति पक्षपातपूर्ण है. अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि वह व्यापार बढ़ाने के लिए कई कदम उठा रहे हैं. उन्होंने कहा कि जब मैं यह बात कह तब हार्ले के मालिक चुप रहे हैं, क्योंकि उनको इस बात की आदत हो गई है. उल्लेखनीय है कि पिछले बुधवार को हार्ले डेविडसन मोटरसाइकिल पर उच्च आयात शुल्क को लेकर भारत पर निशाना साधा और इसे अनुचित करार दिया था. ट्रंप की यह प्रतिक्रिया उस समय आई जब भारत ने हार्ले डेविडसन जैसी महंगे ब्रांड की आयातीत मोटरसाइकिलों पर शुल्क को घटाकर 50 प्रतिशत कर दिया है. यही नहीं ट्रंप ने भारतीय मोटरसाइकिलों पर आयात शुल्क बढ़ाने की भी धमकी दी थी. इस्पात उद्योग पर कांग्रेस के सदस्यों के साथ चर्चा के दौरान ट्रंप ने यह बात कही थी. ट्रंप ने कहा कि भारत सरकार ने हाल में आयातीत मोटरसाइकिलों पर शुल्क 75 प्रतिशत से घटाकर 50 प्रतिशत कर दिया है, जो कि काफी नहीं है और उन्होंने इसे परस्पर अनुवर्ती बनाने के लिए कहा है क्योंकि अमेरिका में मोटरसाइकिल आयात पर 'शून्य कर' लगता है. उन्होंने अपनी इस नाराजगी को जाहिर करते हुए कहा कि अमेरिका को 100 फीसदी टैरिफ को कटौती कर 50 फीसदी करने के बावजूद कुछ भी नहीं मिला। व्हाइट हाउस में सभी राज्यों के गवर्नर्स को संबोधित करते हुए कहा- “अब, प्रधानमंत्री जिन्हें मैं बहुत अच्छा आदमी मानता हूं, उन्होंने कॉल किया और कहा कि हम इसे 50 फीसदी करने जा रहे हैं। मैने कहा- ओके, लेकिन हमें इससे कुछ नहीं मिल रहा है।” राष्ट्रपति ट्रंप ने दोनों हाथ जोड़कर प्रधानमंत्री मोदी की नकल करते हुए धीमे स्वर से कहा- “उन्होंने बेहद शानदार तरीके से कहा, वह ब्यूटीफुल मैन हैं और उन्होंने कहा कि मैं आपको यह बताना चाहता हूं कि हमने इसमें 75 फीसदी की कटौती की है और आगे इसमें कटौती कर 50 फीसदी करने जा रहे हैं। जिसके बाद मैने कहा, हां, लेकिन मै क्या कहूं? क्या मुझे इससे बहुत खुश होना चाहिए?” अमेरिकी राष्ट्रपति ने अप्रत्यक्ष रूप से इस संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हुई हालिया बातचीत का भी उल्लेख किया. ट्रंप ने मोदी के साथ पिछले हफ्ते हुई बातचीत के संदर्भ में कहा, 'भारत से एक महान सज्जन ने मुझे फोन किया और कहा कि हमने मोटरसाइकिलों पर शुल्क को 75 प्रतिशत और यहां तक कि 100 प्रतिशत से घटाकर 50 प्रतिशत कर दिया है.' ट्रंप ने एक बार फिर से 'परस्पर अनुवर्ती कर' की वकालत करते हुए देशों पर अमेरिका के साथ व्यापारिक संबंधों का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा, 'इसलिये मैं कहता हूं, कि इस तरह के मामलों में परस्पर अनुवर्ती कर होना चाहिए. मैं भारत को दोष नहीं दे रहा हूं. मुझे लगता है कि उन्हें इसके साथ जाना चाहियए. मुझे नहीं पता क्यों लोग उन्हें इससे (परस्पर अनुवर्ती कर) दूर रहते हैं, लेकिन यह एक उदाहरण है जो कि अनुचित है. मेरा मानना है कि परस्पर अनुवर्ती कर होना चाहिए उल्लेखनीय है कि हार्ले डेविडसन व ट्रायंफ जैसी महंगे ब्रांड की आयातित मोटरसाइकिलें आयात शुल्क कम होने के बाद भारत में सस्ती होने जा रही हैं. अब तक 800 सीसी या इससे कम इंजन क्षमता वाली मोटरसाइकिल के आयात पर 60 प्रतिशत शुल्क लगता था. वहीं 800 सीसी व इससे अधिक इंजन क्षमता वाले इंजन पर 75 प्रतिशत शुल्क लगता है
उत्तर कोरिया का प्रतिनिधिमंडल शीतकालीन ओलंपिक के समापन समारोह में लेगा हिस्सा
26 February 2018
नई दिल्ली: उत्तर कोरिया का एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल प्योंगचांग शीतकालीन ओलम्पिक के समापन समारोह में शामिल होने के लिए रविवार को दक्षिण कोरिया पहुंच गया. इस प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व 2010 में दक्षिण कोरियाई नौसेना के एक युद्धपोत के डुबोने के लिए जिम्मेदार माने जाने वाले एक शीर्ष अधिकारी किम योंग चोल कर रहे हैं योनहाप न्यूज एजेंसी के मुताबिक, चोल के नेतृत्व में आठ सदस्यीय उत्तर कोरियाई प्रतिनिधिमंडल तीन दिवसीय दौरे पर स्थानीय समयानुसार सुबह 9.53 बजे अंतर कोरियाई सीमा के दक्षिण में स्थित पाजु की एक जांच चौकी पहुंच गया. 72 वर्षीय चोल को मार्च 2010 में उत्तर कोरिया के युद्ध पोत चेओनान को नष्ट करने का जिम्मेदार माना जाता है. इस हमले में 46 दक्षिण कोरियाई नौसैनिक मारे गए थे. कंजेर्विटव सांसदों और इस घटना के पीड़ितों के परिवारों ने चोल के दक्षिण कोरिया आने के विरोध में एक रैली निकाली. दक्षिण कोरियाई सरकार का कहना है कि उसने जनता के विरोध के बावजूद चोल की यात्रा को स्वीकार किया है, क्योंकि सरकार का मानना है कि इस यात्रा से अंतर-कोरियाई संबंध मजबूत होंगे और कोरियाई प्रायद्वीप पर शांति के लिए वार्ता का मार्ग खुलेगा.
सोमालिया की राजधानी मोगादिशू में 2 बम विस्फोट, 18 की मौत और 20 घायल
24 February 2018
नई दिल्ली: सोमालिया की राजधानी मोगादिशू में दोहरा बम विस्फोट में 18 लोगों की मौत हो गई जबकि 20 घायल हो गए. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, आमिन एंबुलेंस के निदेशक अब्दुकादिर अब्दिर्रहमान ने कहा कि शुक्रवार को हुए दोहरे विस्फोट में 18 लोगों की मौत हो गई है. अब्दुर्रहमान ने कहा, "मैं पुष्टि कर सकता हूं कि हमने 18 शव बरामद किए हैं. 20 घायल हैं और हम घायलों को इलाज के लिए विभिन्न अस्पतालों में ले गए हैं." सोमालिया के सुरक्षाबल राष्ट्रपति पैलेस पर हमले को नाकाम करने में सफल रहे लेकिन सुरक्षाबलों ने जैसे ही विस्फोटकों से भरे वाहन को रोकना चाहा, उसमें विस्फोट हो गया. इससे पहले पुलिस ने बताया था कि राष्ट्रपति पैलेस में घुसने का प्रयास कर रहे आतंकवादियों को खदेड़ दिया, इनमें से तीन को मार गिराया गया. पुलिस अधिकारी अहमद अब्दुल्ले ने सिन्हुआ को बताया, "उन्होंने विला सोमालिया में घुसने की कोशिश की लेकिन हमारे सुरक्षाबलों ने उनका मुंहतोड़ जवाब दिया. सुरक्षाबलों ने पैलेस की ओर जा रहे वाहन का पीछा किया लेकिन इसमें पहले ही विस्फोट हो गया." पहला विस्फोट शुक्रवार को शाम लगभग छह बजे हुआ, जब विस्फोटकों से भरे वाहन में डॉर्बिन होटल के पास विस्फोट हो गया. दूसरा विस्फोट इसके तुरंत बाद विला सोमालिया के पास हुआ.
अमेरिका में एच1बी वीजा जारी करने के नियम सख्त, भारतीय आईटी कंपनियों के सामने बड़ी समस्या
23 February 2018
नई दिल्ली: अमेरिका में डोनाल्ड ट्रंप सरकार ने एच1बी वीजा जारी करने के नियम सख्त कर दिए हैं जिससे यहां खास कर जॉब-वर्क करने वाली भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी कंपनियों के लिए अल्पकालिक अवधि के लिए भारत से कुशलकर्मियों को बुलाने में भारी दिक्कतें हो सकती है. अमेरिकी सरकार की नयी नीति के तहत यह साबित करना होगा कि एक या एक से अधिक स्थानों पर जॉब-वर्क की तरह के काम करने के लिए इस वीजा पर बुलाए जा रहे कर्मचारी का काम विशिष्ट प्रकार का है और उसे खास जरूरत के लिए बुलाया जा रहा है. सरकार यह वीजा ऐसे कर्मचारियों के लिए जारी करती है जो बहुत उच्च कौशल प्राप्त होते हैं और उस तरह के हुनरमंद लोगों की अमेरिका में कमी होती है. सरकार ने कल सात पृष्ठ का एक नीतिगत दस्तावेज जारी किया जिसमें एच1बी वीजा के नए नियम जारी किए गए हैं. इसके तहत अमेरिका के नागरिकता और आव्रजन विभाग को यह वीजा केवल तीसरे पक्ष के साइट कार्य (कार्यस्थल) की अवधि तक के लिए जारी करने की ही अनुमति होगी. इस तरह इसकी अवधि तीन साल से कम की हो सकती है जबकि पहले यह एक बार में तीन साल के लिए दिया जाता था. यह नियम लागू हो गया है. इसके लिए ऐसा समय चुना गया है जबकि 1 अक्तूबर 2018-19 से शुरु होने वाले वित्त वर्ष के लिए एच1बी वीजा के आवेदन 2 अप्रैल से आमंत्रित किए जा सकते हैं.
फ्लोरिडा स्कूल में हुई गोलीबारी में बचे लोगों से मिले डोनाल्ड ट्रंप, कहा- टीचर्स भी हथियार रखें
22 February 2018
वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फ्लोरिडा के स्कूल में गोलीबारी में सुरक्षित बचे विद्यार्थियों के साथ बेहद भावनात्मक बातचीत के दौरान शिक्षकों को हथियार चलाने का प्रशिक्षण देने और उन्हें हथियार रखने का सुझाव दिया. साथ ही बंदूकें रखने वालों की पृष्ठभूमि की कड़ी जांच करने की बात कही. वाइट हाउस में मार्जोरी स्टोनमैन डगलस हाई स्कूल के विद्यार्थियों से बातचीत के दौरान ट्रंप ने कहा, ‘मैं आपका पक्ष सुनना चाहता हूं, लेकिन इससे पहले की हम शुरूआत करें, मैं आपको बता दूं कि अब पृष्ठभूमि की कड़ाई से जांच की जाएगी और किसी भी व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य पर ज्यादा ध्यान दिया जाएगा ट्रंप ने यह भी सलाह दी कि कुछ शिक्षकों को हथियार चलाने का प्रशिक्षण दिया जा सकता है ताकि वह बंदूकधारी को रोक सकें. राष्ट्रपति ने कहा, ‘यह सिर्फ उन्हीं के लिए होगा जो बंदूक चला सकने में सक्षम हैं.’ उन्होंने कहा कि शिक्षकों को विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा. वह मौजूद रहेंगे और अब कोई ‘गन फ्री जोन’ नहीं होगा. ट्रंप ने समझाया कि यहां ‘गन फ्री जोन’ का मतलब है ‘ऐसी जगह जहां आप आसानी से बंदूक के साथ जाकर, हमला कर सकते हैं.’
रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस लेने के लिए भारत म्यांमार पर दबाव बनाए : शेख हसीना
21 February 2018
ढाका: बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा है कि रोहिंग्या शरणार्थियों को वापस लेने के लिए भारत को चाहिए कि वह म्यांमार पर दबाव बनाए शेख हसीना ने यह बात भारत से आए पत्रकारों के दल के साथ बातचीत करते हुए कही. शेख हसीना ने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि भारत अपने प्रभाव पर थोड़ा ज्यादा इस्तेमाल करेगा और म्यांमार पर शरणार्थियों को वापस लेने का दबाव बनाएगा. हमें इस बात का भरोसा भी चाहिए कि रोहिंग्या के वापस लौटने के बाद उनके साथ वहां कोई अत्याचार नहीं होगा. शेख हसीना ने कहा, शरणार्थी कैंपों में रोहिंग्या निराश- परेशान हो रहे हैं. उनकी इस परेशानी का फायदा कई ताकतें अपने निहित स्वार्थ के लिए करने की कोशिश करती हैं. उन्हें बरगलाने की कोशिश की जाती है जोकि भारत और बांग्लादेश दोनों के हित में नहीं है. शेख हसीना ने कहा कि हमने रोहिंग्या शरणार्थियों को जगह दी जबकि भारत समेत तमाम दूसरे देशों ने उनके घुसने पर पाबंदी लगा रखी थी. हमने उनके लिए हरसंभव कदम उठाए, एक डेटाबेस बनाया, उनको पहचान पत्र दिया. उनकी तस्वीर के साथ हमने डेटाबेस बनाया. शरणार्थियों की तादाद 1000000 से ज्यादा है और उनके लिए हमेशा सहायता संभव नहीं. हर दिन वहां बच्चे पैदा हो रहे हैं. बरसात का महीना आने वाला है ऐसे में उनकी तकलीफ और बढ़ेगी इसलिए उनकी जल्द से जल्द वापसी का रास्ता खोला जाए. म्यांमार की सीमा से लगने वाले हर देश का यह कर्तव्य है कि वह म्यांमार पर रोहिंग्या समस्या के समाधान को कहें. भारत के अलावा चीन लाओस और थाईलैंड जैसे देशों की सीमा म्यांमार से लगती है लेकिन रोहिंग्याओं का पलायन बांग्लादेश में नहीं हुआ. बांग्लादेश में यथाशक्ति रोहिंग्याओं के मदद की कोशिश की लेकिन एक सीमा के आगे यह संभव नहीं है. बांग्लादेश ने 8000 शरणार्थियों की लिस्ट उन्हें सौंपी है जिनकी वापसी होनी है लेकिन बांग्लादेश यह भी चाहता है कि जल्द से जल्द शरणार्थियों को वापस ले ले.
बंदूक नियंत्रण कानून को सख्त बनाए जाने की मांग को लेकर व्हाइट हाउस के बाहर छात्रों का धरना
20 February 2018
नई दिल्ली: व्हाइट हाउस के बाहर किशोर छात्रों और हजारों की संख्या में मौजूद समर्थकों ने सोमवार को 'प्रेजिडेंट डे' के अवसर पर बंदूक नियंत्रण कानून को सख्त बनाए जाने की मांग को लेकर धरना दिया. सीएनएन के मुताबिक, 'टीन्स फॉर गन रिफॉर्म' नामक समूह के प्रदर्शन के दौरान 17 प्रदर्शनकारी यह दिखाने के लिए सांकेतिक रूप से तीन मिनट तक जमीन पर लेटे रहे कि फ्लोरिडा के मारजोरी स्टोनमैन डगलस हाईस्कूल में स्कूल के ही पूर्व छात्र निकोलस क्रूज ने गोलीबारी कर 17 लोगों को मौत के घाट उतारते में कितना समय लगा था. इस विरोध प्रदर्शन के आयोजक छात्र एलेनोर नुएक्टरलेन और व्हाइटनी बोवेन ने सोमवार को जारी बयान में कहा, "पिछले सप्ताह फ्लोरिडा के स्कूल में हुई गोलीबारी के पीड़ितों के प्रति एकजुटता दिखाते हुए हमने इस विरोध प्रदर्शन का आयोजन किया." उन्होंने कहा, "हम अपनी राष्ट्रीय और राजकीय विधायिकाओं से जिम्मेदार ढंग से कदम उठाने और इस तरह की घटनाओं पर लगाम लगाने का आह्वान करते हैं। यह जरूरी है कि हम सभी अपनी कक्षाओं में सुरक्षित महसूस करें." शुरुआत में उन्हें उम्मीद थी कि उनके सिर्फ करीबी 17 दोस्त ही इस प्रदर्शन में शामिल होंगे लेकिन इसकी खबर सोशल मीडिया पर फैलते ही सैकड़ों समर्थक जुट गए. सीएनएन के मुताबिक, वर्जीनिया से डेमोक्रेटिक सीनेटर बंदूक नियंत्रण के समर्थक डॉन बेयेर ने भी इस प्रदर्शन में हिस्सा लिया. उन्होंने कहा, "मुझे उन पर बहुत गर्व हुआ। ठंड थी, अवकाश का दिन था लेकिन वे पूरी तरह से सक्रिय थे
तकनीकी गड़बड़ी की वजह से केबल कारों के भीतर 80 लोग चार घंटे तक लटके रहे हवा में
19 February 2018
नई दिल्ली: मलेशिया के लैंगकावी में तकनीकी गड़बड़ी की वजह से केबल कारों के भीतर कम से कम 80 लोग चार घंटे तक फंसे हवा में लटके रहे. लैंगकावी विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अजिजान नूरडीन ने कहा कि लगभग चार घंटे तक केबल कारों में फंसे रहने के बाद 89 पर्यटकों को बाहर निकाला गया. समाचार एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक, तकनीशियनों को गड़बड़ी दुरुस्त करने के लिए भेजा गया था. स्थानीय अग्निशमन एवं बचाव विभाग ने इससे पहले जारी एक बयान में कहा था कि बचावकर्मियों को शाम को सतर्क करने के बाद घटनास्थल पर भेजा गया है. शुरुआत में हवा में लटके लोगों के अलावा ऊपरी स्टेशन पर फंसे लोगों को मिलाकर कुल 800 लोगों के फंसे होने की जानकारी मिली थी. गौरतलब है कि बीते साल जम्मू एवं कश्मीर के गुलमर्ग में गंडोला केबल कार सेवा में हुए हादसे में दिल्ली के एक परिवार के चार सदस्यों सहित सात लोगों की मौत हो गई थी. रोपवे परियोजना का इस तरह का यह पहला हादसा था, जो जम्मू एवं कश्मीर सरकार तथा फ्रांस की एक कंपनी का संयुक्त उपक्रम है. गुलमर्ग आने वाले पर्यटकों के बीच यह खासा मशहूर है.
ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री ने मंत्रियों और कर्मचारियों के बीच यौन संबंधों पर प्रतिबंध लगाया
16 February 2018
कैनबरा: ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैलकम टर्नबुल ने गुरुवार को मंत्रियों और कर्मचारियों के बीच यौन संबंधों पर प्रतिबंध की घोषणा की. यह कदम उपप्रधानमंत्री के एक सेक्स स्कैंडल में शामिल के होने के खुलासे के बाद उठाया गया है. इस वाकये ने देश को हिलाकर रख दिया. रिपोर्ट्स के मुताबिक, टर्नबुल ने बारनेबी जॉयस की उनकी मीडिया सलाहकार विक्की कैंपियन के साथ प्रेम संबंधों पर चौंकाने वाले फैसले की निंदा की। विक्की के साथ वह एक बच्चे की उम्मीद कर रहे हैं. प्रधानमंत्री ने कहा, "मैंने आज मानकों में एक बहुत ही स्पष्ट और सुगम प्रावधान जोड़ा है कि मंत्री चाहे वे शादीशुदा हैं या अकेले, कर्मचारियों के साथ यौन संबंधों में संलग्न नहीं होंगे. अगर वह ऐसा करते हैं तो यह मानकों का उल्लंघन होगा." मंत्री द्वारा मानकों का उल्लंघन की जांच के दौरान जॉयस ने सोमवार से अनुपस्थिति की छुट्टी ले ली है. टर्नबुल ने इससे पहले संसद को बताया कि जॉयस अगले सप्ताह से कार्यकारी नेता का पद नहीं संभालेंगे. दरअसल, प्रधानमंत्री अगले सप्ताह अमेरिकी जाने वाले हैं. इस सेक्स स्कैंडल के सामने आने के बाद पिछले बुधवार से आस्ट्रेलिया की राजनीति में हाहाकर मच गया है. पिछले सप्ताह जॉयस और उनकी मीडिया सलाहकार विक्की कैंपयिन के प्रेम संबंध सार्वजनिक हो गए थे
दक्षिण अफ्रिकी राष्ट्रपति जैकब जुमा ने भ्रष्टाचार के आरोप के बाद दिया इस्तीफा
15 February 2018
नई दिल्ली: दक्षिण अफ्रिकी राष्ट्रपति जैकब जुमा ने बुधवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया. इस्तीफा देने से पहले जुमा ने टेलीविजन के माध्यम से देश के नाम एक संबोधन दिया. इस संबोधन में ही उन्होंने इस्तीफा देने की घोषणा की. माना जा रहा है कि जुमा ने उप राष्ट्रपति सायरिल रमाफोसा के लिए पद छोड़ने के बढ़ते दबाव की वजह से इस्तीफा दिया है.गौरतलब है कि 75 वर्षीय जुमा वर्ष 2009 से सत्ता पर काबिज थे. सत्ता में रहते हुए उन पर भ्रष्टाचार के कई आरोप लगे. बताया जा रहा है कि अपने ऊपर लगे इन आरोपों की वजह से भी उन्होंने इस्तीफा देने का फैसला किया है. इस्तीफा देने से पहले जुमा ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए काफी लंबा भाषण दिया. अपने भाषण में उन्होंने कहा कि एएनसी जिस प्रकार से उनके साथ व्यवहार कर रही है, उससे वह काफी आहत हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार जुमा ने अपने भाषण में कहा कि उन्हें अविश्वास प्रस्ताव का कोई डर नहीं है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि मैंने अपनी पूरी क्षमता के साथ दक्षिण अफ्रीका के लोगों की सेवा की है. एएनसी में हिंसा और फूट ने मुझे पद छोड़ने पर मजबूर किया है. उन्होंने कहा कि मैं नहीं चाहता कि मेरे कारण किसी की जान जाए और एएनसी में फूट पड़े. इसलिए मैंने राष्ट्रपति पद से इस्तीफा देने का फैसला किया है.
अमेरिका के खुफिया प्रमुख ने कहा, भारत में हमले जारी रखेंगे पाक समर्थित आतंकी
14 February 2018
वाशिंगटन : अमेरिका के खुफिया प्रमुख ने चेतावनी दी कि पाकिस्तान समर्थित आतंकी समूह भारत के भीतर हमले जारी रखेंगे और ऐसे में दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ने का खतरा है राष्ट्रीय खुफिया के निदेशक डैन कोट्स का यह बयान उस वक्त आया है जब कुछ दिनों में पहले जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों ने सुंजवान में सैन्य शिविर पर हमला किया था, जिसमें छह सैनिकों सहित सात लोगों की मौत हो गई थी. कोट्स ने सीनेट की प्रवर समिति के समक्ष सुनवाई में कहा, ‘‘इस्लामाबाद समर्थित आतंकी समूह भारत और अफगानिस्तान में हमले की योजना बनाने और हमले करने के लिए पाकिस्तान में अपनी सुरक्षित पनाहगाह का लाभ उठाना जारी रखेंगे.’’ पाकिस्तान के किसी आतंकी संगठन का नाम लिए बगैर कोट्स ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ने के आसार हैं. वहींं अमेरिकी खुफिया प्रमुख ने आगाह किया कि छोटी दूरी के हथियारों सहित पाकिस्तान नये तरह के परमाणु हथियारों का विकास कर रहा है. नेशनल इंटेलीजेंस के निदेशक डैन कोट्स ने शनिवार को जम्मू में सुंजवां सैन्य शिविर पर हुए पाकिस्तानी आतंकियों के एक समूह के हमले के कुछ दिन बाद यह टिप्पणी की. कोट्स ने खुफिया मामलों से जुड़ी सीनेट की प्रवर समिति द्वारा विश्वव्यापी खतरों के विषय पर आयोजित की गयी सुनवाई के दौरान सांसदों से कहा कि पाकिस्तान छोटी दूरी के रणनीतिक हथियारों सहित नये तरह के परमाणु हथियारों का विकास कर रहा है. उन्होंने आगाह किया कि पाकिस्तान ने परमाणु हथियारों का निर्माण एवं छोटी दूरी के रणनीतिक हथियारों सहित नये तरह के परमाणु हथियारों, समुद्र आधारित क्रूज मिसाइलों, हवा में छोड़े जाने वाले क्रूज मिसाइल और लंबी दूरी के बैलिस्टिक मिसाइल का विकास करना जारी रखा है.
संदिग्ध लिफाफा खोलने के बाद ट्रंप की बहू अस्पताल में भर्ती, अंदर था सफेद पाउडर
13 February 2018
नई दिल्ली: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बहू वेनेसा ट्रंप को एक संदिग्ध लिफाफा खोलने के बाद सफेद पाउडर के संपर्क में आने से सोमवार को एहतियातन अस्पताल में भर्ती कराया गया है. वेनेसा राष्ट्रपति ट्रंप के बेटे डोनाल्ड ट्रंप जूनियर की पत्नी हैं. न्यूयॉर्क पुलिस विभाग के सार्वजनिक सूचना विभाग के उपायुक्त सार्जेट ली जोन्स ने सिन्हुआ को बताया कि वेनेसा ट्रंप को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उन्होंने अपने न्यूयॉर्क स्थित आवास पर ट्रंप जूनियर के लिए आए एक संदिग्ध लिफाफे को खोला था. जोन्स ने कहा कि वेनेसा पाउडर से कोई खास तौर पर प्रभावित प्रतीत नहीं हो रही थीं. स्थानीय मीडिया के अनुसार पुलिस ने इस बात का खुलासा नहीं किया है. सफेद पाउडर हानिकारक नहीं होना चाहिए, इसे जांच के लिए लैब भेजा गया है. किन सूत्रों के अनुसार यह कार्नस्ट्रार्ट यानी मक्के के आटे जैसा कुछ था. गौरतलब है कि संदिग्ध लिफाफा खोलने के बाद वेनिसा ने खांसना शुरू कर दिया. उनका जी मचलाने लगा था, जिसके बाद उन्होंने 911 पर फोन किया बता दें, डोनाल्ड ट्रम्प जूनियर और वेनेसा की शादी 2005 में हुई थी. दोनों के 5 बच्चे हैं. शादी से पहले वेनेसा मॉडलिंग किया करती थीं. घटना के बाद डोनाल्ड टम्प जूनियर ने ट्वीट करते हुए जानकारी दी- ''शुक्र है आज सुबह हुई डरावनी घटना के बाद वेनेसा और मेरे बच्चे सुरक्ष‍ित हैं
सीरिया में पकड़े गए विदेशी लड़ाकों पर मुकदमा उनके अपने ही देश में चले : अमेरिका
12 February 2018
नई दिल्ली: अमेरिका ने अपने सहयोगी देशों से अनुरोध किया है कि वह सीरिया में अमेरिकी समर्थन वाले सीरियाई लोकतांत्रिक बल द्वारा बड़ी संख्या में पकड़े जा रहे युद्धबंदियों से निपटने में मदद करें. अमेरिका चाहता है कि इन सभी बंदियों के खिलाफ उनके देश में मुकदमा चलना चाहिए. अमेरिका के रक्षा मंत्री जिम मैटिस संभवत: इस सप्ताह रोम में होने वाली बैठक में यह मुद्दा उठाएंगे. गौरतलब है कि इराक और सीरिया में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों के खिलाफ लड़ रहे देशों के गठबंधन की यहां बैठक होने वाली है. सीरियाई लोकतांत्रिक बल ने मौजूदा वक्त में आईएस के हजारों सदस्यों को बंदी बनाया हुआ है, जिनमें सैकड़ों विदेशी लड़ाके हैं. सीरियाई लोकतांत्रिक बल द्वारा हाल ही में आईएस के बीटल्स शाखा के दो ब्रिटिश सदस्यों की गिरफ्तारी के बाद यह मुद्दा और महत्वपूर्ण बन गया है. बीटल्स बंधकों का गला काटने के लिए कुख्यात है अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि इन दोनों को क्यूबा स्थित गुआन्तानामो जेल में डालना कोई विकल्प नहीं है. वहीं ब्रिटेन के नेताओं का कहना है कि वह दोनों को अपने देश वापस नहीं लाना चाहते
संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कोरियाई नेता किम योंग नैम से की मुलाकात
10 February 2018
संयुक्त राष्ट्र: संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने उत्तर कोरियाई संसद के अध्यक्ष किम योंग नैम से दक्षिण कोरिया में मुलाकात की. संयुक्त राष्ट्र के उपप्रवक्ता फरहान हक ने न्यूयॉर्क में यूएन मुख्यालय में संवाददाताओं को बताया कि गुटेरेस ने दक्षिण कोरिया के प्योंगचांग में शीतकालीन ओलम्पिक के उद्घाटन समारोह से इतर किम से मुलाकात की. हक ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र ने कोरियाई प्रायद्वीप के परमाणु निरस्त्रीकरण करने के लिए सभी पक्षों के बीच संवाद की उम्मीद जताई. हालांकि, हक ने इस मुलाकात के बारे में अधिक जानकारी नहीं दी.
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और पीएम नरेंद्र मोदी ने की मालदीव के हालात पर बातचीत
9 February 2018
वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने फोन पर बातचीत के दौरान मालदीव के राजनीतिक हालात पर चिंता जतायी. व्हाइट हाउस ने बताया कि दोनों नेताओं के बीच अफगानिस्तान की स्थिति और हिन्द-प्रशांत क्षेत्र में सुरक्षा बढ़ाने पर भी चर्चा हुई. इस साल ट्रंप और मोदी के बीच फोन पर हुई पहली बातचीत के बारे में व्हाइट हाउस ने कहा, ‘‘दोनों नेताओं ने मालदीव में राजनीतिक संकट पर चिंता जतायी और लोकतांत्रिक संस्थाओं तथा विधि के शासन का सम्मान करने के महत्व पर जोर दिया.’’ मालदीव की सुप्रीम कोर्ट द्वारा पिछले गुरुवार को विपक्ष के नौ हाई-प्रोफाइल राजनीतिक बंदियों को रिहा करने और उनके खिलाफ चलाये गए मुकदमों को राजनीति से प्रेरित बताये जाने के बाद से ही देश में राजनीतिक संकट के बादल छा गये थे. घटना के बाद मालदीव के राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश को मानने से इनकार कर दिया, जिसके कारण पूरे देश में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गये. राष्ट्रपति ने देश में आपातकाल की घोषणा कर दी जिसके कुछ ही घंटों बाद सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश अब्दुल्ला सईद और एक अन्य न्यायाधीश अली हमीद को गिरफ्तार कर लिया गया व्हाइट हाउस ने बताया कि दोनों नेताओं ने हिन्द-प्रशांत क्षेत्र में सुरक्षा और समृद्धि बढ़ाने पर भी बातचीत की. मोदी और टूंप ने म्यामां और रोहिंग्या शरणार्थियों की समस्याओं को हल करने पर भी बातचीत की
बांग्लादेश की पूर्व पीएम खालिदा जिया को भ्रष्टाचार के मामले में 5 साल की कैद, नहीं लड़ सकेंगी चुनाव
8 February 2018
ढाका : बांग्लादेश की एक विशेष अदालत ने वहां की विपक्ष की नेता और पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया को घोटाले के एक मामले में 5 साल की जेल की सज़ा सुनाई है. इस सज़ा के बाद अब खालिदा ज़िया दिसंबर में होने वाले चुनाव नहीं लड़ सकेंगी. यह घोटाला 252 हज़ार यूएस डॉलर का है जो एक अनाथालय- ज़िया ऑरफेनेज ट्रस्ट के लिए विदेशों से भेजा गया था इसी मामले में उनके बेटे तारिक रहमान और 4 और लोगों को 10 साल की सज़ा सुनाई गई है. इससे पहले नवंबर 2014 में बांग्लादेश के सुप्रीम कोर्ट ने उनकी अपील को खारिज कर मामले को निचली अदालत में सुने जाने का आदेश दिया था. आरोप था कि जो ट्रस्ट ये चला रही थीं वो महज़ कागजों पर था और लाखों का घोटाला हुआ. अब अदालत ने उनको दोषी पाया है और पांच साल की सज़ा हुई है. आरोप था कि जब जिया 2001-2006 की बीएनपी सरकार के दौरान प्रधानमंत्री थीं तब इन दोनों संगठनों के नाम पर बड़ी मात्रा में धन की हेराफेरी की गई थी. सज़ा सुनाए जाने के दिन ढाका में कड़ी सुरक्षा की व्यवस्था की गई थी. किसी भी विरोध प्रदर्शन पर रोक लगा दी गई थी.
मालदीव में इमरजेंसी: पूर्व राष्ट्रपति ने कहा- भारत को दूत और सेना भेजनी चाहिए
7 February 2018
माली : भारत के पड़ोसी देश मालदीव में 15 दिनों की इमरजेंसी लगी है. मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद ने इस मामले में भारत से दखल की मांग की है. नशीद ने कहा है कि ऐसे हालात में भारत को मालदीव में दूत और सेना भेजनी चाहिए. हालांकि भारत ने कहा है कि वह मालदीव के हालात से चिंतित है लेकिन भारत ने सेना भेजने के बारे में कुछ नहीं कहा है. वहीं मालदीव की सुप्रीम कोर्ट ने नौ राजनीतिक कैदियों को रिहा करने के अपने आदेश को वापस ले लिया है. इन राजनैतिक बंदियों में पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद का भी नाम था. सुप्रीम कोर्ट के 3 जजों ने कहा है कि उन्होंने ऐसा राष्ट्रपति के कहने पर किया है. 1 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट के 5 जजों ने पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद समेत कुछ नेताओं के ख़िलाफ़ मामले खत्म कर दिए थे. नशीद पर आतंकवाद से जुड़ा मामला चलाया गया था, जिसे वह राजनीति से प्रेरित बताते हैं. इमरजेंसी के साथ ही मालदीव में सुप्रीम कोर्ट के 5 में से 2 जजों को भी गिरफ़्तार कर लिया गया. गौरतलब है कि मुख्य न्यायाधीश अब्दुल्ला सईद और एक अन्य न्यायाधीश अली हमीद को कल राष्ट्रपति की ओर से आपातकाल की घोषणा किए जाने के कुछ ही घंटों के भीतर गिरफ्तार कर लिया गया. उनके खिलाफ किसी जांच या किसी आरोप की जानकारी भी नहीं दी गई. देर रात हुए घटनाक्रम के तहत शेष तीन जजों वाली सुप्रीम कोर्ट ने नौ हाईप्रोफाइल राजनीतिक कैदियों के रिहाई के आदेश को वापस ले लिया. जजों ने एक बयान में कहा कि वे राष्ट्रपति द्वारा उठाई गई चिंताओं के मद्देनजर कैदियों की रिहाई के आदेश को वापस ले रहे है विपक्ष का समर्थन कर रहे पूर्व राष्ट्रपति मौमून अब्दुल गयूम को भी उनके आवास पर हिरासत में ले लिया गया. इससे पूर्व राष्ट्रपति यामीन ने न्यायाधीशों पर आरोप लगाया कि वह उन्हें अपदस्थ करने की साजिश रच रहे थे और इस साजिश की जांच करने के लिए ही आपातकाल लगाया गया.
दुबई फिर से दुनिया का सबसे व्यस्त अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा
5 February 2018
दुबई: दुबई अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे ने कहा है कि वर्ष 2017 में करीब 8.82 करोड़ यात्रियों के आवागमन के साथ उसने अंतरराष्ट्रीय यात्रा के लिये दुनिया के सबसे व्यस्त हवाईअड्डा का अपना पहला स्थान बरकरार रखा है. हवाईअड्डा ने आज जारी एक बयान में इस आंकड़े की जानकारी दी. वर्ष 2016 में हवाईअड्डे पर 8.36 करोड़ यात्रियों ने आवागमन किया था. दुबई हवाईअड्डा के सीईओ पॉल ग्रिफिथ्स ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि वर्ष 2018 में यात्रियों के आवागमन का यह आंकड़ा 9.03 करोड़ को छू सकता है. दुबई अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा सबसे पहले वर्ष 2014 में लंदन के हीथ्रो हवाईअड्डा को पीछे छोड़कर अंतरराष्ट्रीय यातायात के मामले में दुनिया का सबसे व्यस्त हवाईअड्डा बना था.
अमेरिका चाहता है कि आतंकवादियों के पनाहगाह के खिलाफ पाकिस्तान करे कार्रवाई : अधिकारी
3 February 2018
वाशिंगटन: अमेरिका ने यह स्पष्ट कर दिया है कि वह पाकिस्तान से अपनी सरजमीन पर स्थित आतंकवादियों की पनाहगाह के खिलाफ कार्रवाई करने की उम्मीद करता है. हाल में अफगानिस्तान की यात्रा से लौटे अमेरिका के विदेश उपमंत्री जॉन जे. सुलिवन ने कहा कि अमेरिका पाकिस्तान से यह भी उम्मीद करता है कि वह क्षेत्र में स्थायी शांति बनाने में योगदान देगा. सुलिवन ने अफगानिस्तान से वापस आने के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘अफगान नेतृत्व के साथ वार्ता के दौरान मैंने निश्चित ही इस विषय पर बात की.’ सुलिवन ने कहा, ‘हमने पाकिस्तान सरकार को अपनी इस उम्मीद के बारे में यह स्पष्ट कर दिया है कि वह पाकिस्तान में स्थित पनाहगाह में मौजूद आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करे ताकि अफगानिस्तान में हिंसा का खतरा और दबाव कम हो सके.’ सुलिवन ने कहा कि अफगानिस्तान की उनकी यात्रा में उन्हें देश के साथ अपनी साझीदारी को मजबूत करने की अमेरिका की प्रतिबद्धता को फिर से पुष्ट करने का अवसर मिला. उन्होंने इस बात पर अफसोस जताया कि इस चरण पर हर किसी के शांति चाहने के बावजूद तालिबान वार्ता की मेज पर आने का इच्छुक प्रतीत नहीं होता. सुलिवन ने कहा कि उन्होंने अफगानिस्तान के नेताओं के साथ सुरक्षा सहयोग और समय से, विश्वनीय एवं समावेशी संसदीय एवं राष्ट्रपति चुनाव कराने की महत्ता पर चर्चा की. पेंटागन की मुख्य प्रवक्ता डाना व्हाइट ने भी कहा कि नई दक्षिण एशियाई रणनीति के तहत पाकिस्तान के पास आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में साझीदार बनने का अवसर है. उन्होंने कहा, ‘वह (पाकिस्तान) आतंकवाद से पीड़ित रहा है और उसने आतंकवाद को सहयोग दिया है. हम चाहते हैं कि वह आतंकवाद का मुकाबला करने में सक्रिय भूमिका निभाए
म्यांमार की नेता आंग सान सू ची के झील किनारे स्थित विला पर पेट्रोल बम हमला
2 February 2018
यांगून: म्यांमार की नेता आंग सान सू ची के यांगून में झील के किनारे स्थित परिसर में एक व्यक्ति ने पेट्रोल बम फेंका. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. नेशनल लीग फार डेमोक्रेसी (एनएलडी) के एक अधिकारी ने फेसबुक पर पोस्ट किया कि हमले के कारण मामूली नुकसान हुआ है. उन्होंने कहा, ‘हमले में कुछ भी नष्ट नहीं हुआ है। हमारे सम्मानित सुरक्षा बल अपना काम कर रहे है और वे दोषी को गिरफ्तार कर सकते है.’ सरकारी प्रवक्ता जॉ हतै ने इस हमले की पुष्टि की. हालांकि उन्होंने हमले के संभावित उद्देश्य के बारे में नहीं बताया. उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर एक संदिग्ध की फोटो जारी की है जिसमें वह गुलाबी टी-शर्ट और नीली लुंगी पहने हुए है. हमले के समय सू ची म्यामां की राजधानी में थी जहां उन्होंने एनएलडी सरकार के सत्ता में आने के दो वर्ष पूरे होने के मौके पर संसद को संबोधित किया. म्यांमार में लोकतंत्र का झंडा बुलंद करने वाली नेता सू ची ने इस घटना पर अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.
जापान के वृद्धाश्रम में आग लगने से 11 की मौत
1 February 2018
टोक्यो: जापान के एक वृद्धाश्रम में आग लगने से 11 लोगों की मौत हो गई, जबकि तीन घायल हो गए. समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, जापान प्रशासन होक्काइदो के सापोरो स्थित वृद्धाश्रम में आग लगने के कारणों की जांच कर रहा है. एक शख्स ने वृद्धाश्रम से धुंआ उठते देखा और तुरंत आपातकाल सेवा को सूचित कर दिया, जिसके बाद 40 से अधिक दमकल वाहन, एंबुलेंस और पुलिस कारें घटनास्थल पर पहुंची. जिस समय यह आग लगी, उस समय केंद्र में 16 लोग थे, जो इसकी अधिकतम क्षमता है. इस घटना में मारे गए आठ पुरूषों और तीन महिलाओं की पहचान नहीं हो सकी है. इसके अलावा पांच को जीवित बचा लिया गया लेकिन 50 से 80 वर्ष के बीच के तीन पुरूष घायल हो गए. हालांकि, इनकी हालत गंभीर नहीं है और इन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है
अमेरिका में मारे गए भारतीय इंजीनियर की पत्नी ट्रंप के यूनियन ऐड्रेस में बनीं मेहमान
31 January 2018
नई दिल्ली: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आज कांग्रेस में अपना पहला ‘स्टेट ऑफ द यूनियन ऐड्रेस’ दिया और इस मौके पर मौजूद रहने वाले मेहमानों में दिवंगत भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचिभोटला की पत्नी सुनैना दुमाला भी शामिल हुईं. ‘स्टेट ऑफ द यूनियन ऐड्रेस’ अमेरिकी राष्ट्रपति की ओर से हर साल दिया जाने वाला पारंपरिक संबोधन है. राष्ट्रपति कांग्रेस के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करते हैं और इसमें देश के हालात के बारे में विचार रखते हैं. ट्रंप ने आज अपने संबोधन में टैक्स से लेकर बेरोजगारी आदि मुद्दों पर अपनी बात रखी. उन्होंने कहा कि अमेरिका ने कई ऐतिहासिक फैसले लिए हैं. बता दें कि राष्ट्रपति ट्रंप ने कल कहा कि वह अपने इस संबोधन के दौरान मुख्य रूप से व्यापार और आव्रजन पर ध्यान केंद्रित करेंगे. ट्रंप ने कहा, ‘‘ यह एक बड़ा संबोधन, महत्वपूर्ण संबोधन है. हमने कड़ी मेहनत की है. बाजार और कर में कटौती के तौर पर हमारी बड़ी सफलताएं हैं.’’ व्हाइट हाउस की प्रवक्ता सारा सैंडर्स ने संवाददाताओं से कहा कि इस संबोधन का विषय सुरक्षित, मजबूत और गौरवशाली अमेरिका का निर्माण है डेमोक्रेटिक पार्टी के कई सांसदों ने कहा है कि ट्रंप की ओर से कुछ समुदायों और देशों के बारे की गई टिप्पणियों के विरोध में वे इस संबोधन में भाग नहीं लेंगे. अमेरिका में नस्ली घृणा का शिकार बने भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचिभोटला की पत्नी सुनैना भी मेहमानों की सूची में शामिल हैं. पिछले साल ओलाठे शहर में श्रीनिवास की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.कांग्रेस सदस्य केविन योदर ने सुनैना को आमंत्रित किया है.
अमेरिका में मारे गए भारतीय इंजीनियर की पत्नी ट्रंप के यूनियन ऐड्रेस में बनीं मेहमान
31 January 2018
नई दिल्ली: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आज कांग्रेस में अपना पहला ‘स्टेट ऑफ द यूनियन ऐड्रेस’ दिया और इस मौके पर मौजूद रहने वाले मेहमानों में दिवंगत भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचिभोटला की पत्नी सुनैना दुमाला भी शामिल हुईं. ‘स्टेट ऑफ द यूनियन ऐड्रेस’ अमेरिकी राष्ट्रपति की ओर से हर साल दिया जाने वाला पारंपरिक संबोधन है. राष्ट्रपति कांग्रेस के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करते हैं और इसमें देश के हालात के बारे में विचार रखते हैं. ट्रंप ने आज अपने संबोधन में टैक्स से लेकर बेरोजगारी आदि मुद्दों पर अपनी बात रखी. उन्होंने कहा कि अमेरिका ने कई ऐतिहासिक फैसले लिए हैं. बता दें कि राष्ट्रपति ट्रंप ने कल कहा कि वह अपने इस संबोधन के दौरान मुख्य रूप से व्यापार और आव्रजन पर ध्यान केंद्रित करेंगे. ट्रंप ने कहा, ‘‘ यह एक बड़ा संबोधन, महत्वपूर्ण संबोधन है. हमने कड़ी मेहनत की है. बाजार और कर में कटौती के तौर पर हमारी बड़ी सफलताएं हैं.’’ व्हाइट हाउस की प्रवक्ता सारा सैंडर्स ने संवाददाताओं से कहा कि इस संबोधन का विषय सुरक्षित, मजबूत और गौरवशाली अमेरिका का निर्माण है डेमोक्रेटिक पार्टी के कई सांसदों ने कहा है कि ट्रंप की ओर से कुछ समुदायों और देशों के बारे की गई टिप्पणियों के विरोध में वे इस संबोधन में भाग नहीं लेंगे. अमेरिका में नस्ली घृणा का शिकार बने भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचिभोटला की पत्नी सुनैना भी मेहमानों की सूची में शामिल हैं. पिछले साल ओलाठे शहर में श्रीनिवास की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.कांग्रेस सदस्य केविन योदर ने सुनैना को आमंत्रित किया है.
चीन की 'चालबाजी' फिर शुरू, कहा-डोकलाम हमारा, इलाके में निर्माण कार्य जारी
30 January 2018
बीजिंग: पिछले साल 73 दिनों के गतिरोध के बाद सुलझे डोकलाम विवाद को लेकर चीन की 'चालबाजी' फिर शुरू हो गई है. चीन ने फिर दावा किया है कि डोकलाम चीन का हिस्सा है और वह वहां पर निर्माण कार्य भी करा रहा है. चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि डोकलाम चीनी भूभाग है और चीन उस इलाके में अपने प्रतिष्ठान बना रहा है. भूटान यहां अपनी संप्रभुता का दावा करता है. इसके साथ ही चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि भारत और चीन को डोकलाम समेत अपने सीमा विवाद को 'शांतिपूर्ण तरीके' से देखना चाहिए और मौजूदा तंत्र के जरिये उन्हें सुलझाना चाहिए. चीनी 'दैनिक ग्लोबल टाइम्स' में छपे चीन में भारतीय राजदूत गौतम बंबावले के एक इंटरव्यू पर प्रतिक्रिया देते हुए चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चूनयिंग ने कहा कि मौजूदा तंत्र के जरिये मतभेदों को हल किया जा सकता है. भारतीय राजदूत ने अपने इंटरव्यू में कहा था कि 3,488 किलोमीटर की सीमा के संवेदनशील क्षेत्रों में यथास्थिति में बदलाव नहीं किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा, 'निश्चित रूप से हमने यह नोट किया कि राजदूत ने इस मुद्दे के संदर्भ में बयान दिया है.' उन्होंने कहा, 'मुझे कहना चाहिए कि दोनों देशों को सीमा मुद्दों को शांतिपूर्ण तरीके से देखना चाहिये और सीमा-संबंधी मौजूदा तंत्रों के जरिये इनका समाधान करना चाहिए. इससे हम हमारे मतभेदों के उचित समाधान के लिए स्थितियां और सक्षम माहौल बना सकें.' सीमा पर तनाव को लेकर चर्चा करने के लिए व्यवस्था के अलावा भारत और चीन में सीमा विवाद को लेकर मतभेद के समाधान के लिए विशेष प्रतिनिधि स्तर की सीमा वार्ता का तंत्र भी मौजूद है. एक नई उपग्रह तस्वीर में दिख रही दोनों तरफ की मोर्चेबंदी को लेकर पूछे गए सवाल पर हुआ ने जोर देकर कहा कि डोकलाम चीनी भूभाग है और चीन उस इलाके में अपने प्रतिष्ठान बना रहा है. भूटान यहां अपनी संप्रभुता का दावा करता है उन्होंने 1890 में ब्रिटेन और चीन के बीच हुई संधि का संदर्भ देते हुए कहा, 'चीन-भारत सीमा का सिक्किम क्षेत्र इस ऐतिहासिक संधि से सीमांकित है और यह चीन के न्यायक्षेत्र में आती है.' हुआ ने कहा, 'चीन ने हमेशा डोंगलांग (डोकलाम) समेत अपने सीमावर्ती इलाकों में संप्रभुता को कायम रखा है.' उपग्रह की तस्वीरों के बारे में उन्होंने कहा, 'मैं जोर देकर कहना चाहूंगी कि यह (इलाका) चीन की संप्रभुता में आता है, जिसमें हम डोंगलांग इलाके में प्रतिष्ठानों का निर्माण कर रहे हैं.' उन्होंने कहा, 'कुछ भारतीय मीडिया में इलाके में सैन्य जमाव और आधारभूत संरचनाओं के निर्माण को लेकर खबरें आई हैं. वे इस बारे में काफी उत्साहित हैं
अमेरिका के पेंसिल्वेनिया में हुई गोलीबारी में चार लोगों की मौत, हमलावर घायल
29 January 2018
नई दिल्ली: अमेरिका के पेंसिल्वेनिया में हुई गोलीबारी में चार लोगों की मौत हो गई. पुलिस ने बताया कि यह गोलीबारी पिट्सबर्ग से लगभग 80 किलोमीटर दक्षिणपूर्व में मेल्क्रॉफ्ट में 'एड्स कार वॉश' में हुई. पुलिस ने शुरुआत में कहा कि पांच लोगों की मौत हुई है लेकिन बाद में स्पष्ट किया गया कि संदिग्ध हमलावर भी गंभीर रूप से घायल हुआ है और वह स्थानीय अस्पताल में भर्ती है. इस घटना के दौरान एक पिकअप ट्रक पीछे छिपी महिला को भी मामूली चोटें आई हैं. हमलावर के पास कथित तौर पर एआर-15 सेमी ऑटोमैटिक राइफल, 9एमएम हैंडगन और एक 308 राइफल थी। इसके साथ ही उसके पास इन हथियारों के लिए कई मैगजीन थी. हमलावर की उम्र 28 साल है. यह गोलीबारी एक घरेलू विवाद की वजह से हुई. गौरतलब है कि पिछले कुछ सालों में अमेरिका के कई शहरों में इस तरह की घटनाएं बढ़ी हैं. इन घटनाओं को रोकने के लिए वहां पर लाइसेंसी हथियार देने की योजना को खत्म करने का भी विचार हो रहा है. अमेरिका में हथियार रखने का शौक काफी है और ऐसी घटनाओं में कई बार लोग गुस्से की वजह से इन हथियारों के इस्तेमाल कर देते हैं. बीते साल दिसंबर में ही अमेरिका के शिकागो में भारतीय छात्र के साथ गोलीबारी का मामला सामने आया था. हैदराबाद का रहने वाला मोहम्मद अकबर शिकागो में पढ़ाई कर रहा था. अकबर के पिता ने बताया कि वह वहां एक अस्पताल में भर्ती है और उसकी हालत गंभीर है. उन्होंने बताया कि अकबर को उस समय गोली मारी गई जब वह पार्किंग में अपनी कार के पास टहल रहा था. गोली लगने के बाद उसे गंभीर हालत में एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है.
अफगानिस्‍तान की राजधानी काबुल में जबरदस्‍त बम ब्‍लास्‍ट, 40 लोगों की मौत, 140 घायल
27 January 2018
काबुल: अफगानिस्तान की राजधानी काबुल शनिवार को एक जबरदस्त बम ब्लास्ट से दहल उठी. जर्बदस्त विस्फोट में कम से कम 40 लोगों के मारे जाने की खबर है जबकि 140 से ज्‍यादा लोग घायल हुए है जिनमें कई की हालत गंभीर है. मरनेवालों की संख्‍या बढ़ सकती है. अधिकारियों की मानें तो काबुल में विदेशी दूतावास और सरकारी इमारतों के पास एक एंबुलेंस में बम छुपाया गया था, वहीं पर ये भयानक विस्फोट हुआ. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, विस्फोट जम्हूरियत अस्पताल के सामने दोपहर लगभग 12.50 बजे हुआ, जहां कई सरकारी कार्यालय और विदेसी दूतावास स्थित हैं. बताया जा रहा है कि इलाके में भयानक विस्फोट सुनाई दिया, जो सिदारत स्क्वेयर से कुछ मीटर दूर है. फिलहाल, पूरे इलाके को सील कर दिया गया है. चश्मदीदों के अनुसार अस्‍पताल के परिसर की खिड़कियां चटक गईं. कथित रूप से इस विस्फोट की जो ऑनलाइन तस्वीर डाली गयी है उसमें धुएं का गुबार उठता हुआ नजर आ रहा है. इस विस्फोट की जिम्मेदारी तालीबान ने ली है. बता दें कि इससे पहले काबुल में इंटरकांटिनेंटल होटल पर हमले की जिम्मेदारी भी तालीबान ने ही ली थी, जिसमें 20 से ज्यादा लोग मारे गए थे.
HC ने हाफिज सईद की गिरफ्तारी पर रोक लगाई; आतंकी सरगना ने खुद को बताया सोशल वर्कर
25 January 2018
लाहौर/नई दिल्ली. लाहौर हाईकोर्ट ने मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद की संभावित गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। सईद ने मंगलवार को एक अर्जी दायर कर कहा था कि यूएन की एक जांच टीम इस हफ्ते पाकिस्तान आ रही है और सरकार भारत-अमेरिका के दबाव की वजह से उसे गिरफ्तार कर सकती है। सईद ने अपनी अर्जी में कहा था कि वो 142 स्कूल और 3 यूनिवर्सिटीज चलाता है। सोशल वेलफेयर के काम की वजह से उसकी गिरफ्तारी गलत होगी। यूएन टीम इस बात की जांच करेगी कि पाकिस्तान सरकार ने सईद और उसके संगठनों पर लगी बंदिशों पर कितना और किस तरह अमल किया है
लंबे वक्त से पब्लिक वेलफेयर के लिए काम किया - सईद की तरफ से उसके वकील एके. डोगर ने मंगलवार को लाहौर हाईकोर्ट में एक पिटीशन दायर की थी। इसमें कहा गया था- भारत और अमेरिका के दबाव में पाकिस्तान सरकार मेरे मुवक्किल हाफिज मोहम्मद सईद को गिरफ्तार कर सकती है। सरकार को एेसा करने से रोका जाए। - पिटीशन में सईद के हवाले से कहा गया- मैंने जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन जैसे सोशल वेलफेयर ऑर्गनाइजेशंस बनाए। इनके जरिए 142 स्कूल और तीन यूनिवर्सिटीज देश की बेहतरी के लिए बनाईं। मैं समाज के बेहतरी के लिए लंबे वक्त से काम कर रहा हूं।
हाईकोर्ट ने क्या ऑर्डर दिया? - बुधवार को सईद की अर्जी पर लाहौर हाईकोर्ट के जस्टिस अमीन अमीनुद्दीन खान ने सुनवाई की। इसके बाद सरकार को ऑर्डर जारी किया गया। इसमें कहा गया है कि सरकार हाईकोर्ट की मंजूरी के बिना सईद को गिरफ्तार नहीं कर सकती। हाईकोर्ट ने सरकार से कहा है कि वो 17 मार्च तक अपना जवाब दाखिल करे।
सईद तक सीधी पहुंच मुमकिन नहीं - पाकिस्तान के अखबार ‘द नेशन’ ने पिछले दिनों यूएन टीम की जांच के बारे में एक रिपोर्ट पब्लिश की। इसमें सरकार के सूत्रों के हवाले से कई अहम जानकारियां दी गईं। - इन सूत्रों के मुताबिक, यूएन सिक्युरिटी काउंसिल की sanctions monitoring team टीम को हाफिज सईद या जमात-उद-दावा के अलावा इससे जुड़े बाकी संगठनों तक सीधी पहुंच (direct access) नहीं दी जाएगी। - एक और रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान सरकार ने तय किया है कि हाफिज सईद के मामले में वो दबाव में नहीं आएगी।
पाकिस्तान के किन संगठनों पर बैन? - यूएन ने पाकिस्तान में कई संगठनों को बैन किया है। इनमें जमात-उद-दावा, तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान, लश्कर-ए-झांगवी, फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन और लश्कर-ए-तैयबा शामिल हैं। इनके अलावा इन संगठनों के सरगनाओं जिनमें हाफिज सईद भी शामिल को भी बैन किया गया है।
दावों पर भरोसा नहीं - पाकिस्तान सरकार ने दावा किया था कि उसने हाफिज सईद के जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन के चंदा लगाने और पब्लिक प्रोग्राम करने पर रोक लगा दी है। हालांकि, उसके इन दावों की हकीकत पर सवाल उठते रहे। - पाकिस्तान के ही कुछ सांसदों ने हाफिज सईद को देश के लिए खतरा बताया। मीडिया रिपोर्ट्स में भी दावा किया गया कि सईद पर किसी तरह की कोई बंदिशें नहीं हैं और वो अपने संगठनों के नाम बदलकर काम कर रहा है। - खतरा तब और बढ़ता नजर आया है जब पता लगा कि पाकिस्तान के स्टॉक मार्केट में फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन को रजिस्टर कराने की कोशिश खुद पाकिस्तान सरकार कर रही है। इसके बाद भारत और अमेरिका ने पाकिस्तान पर दबाव बढ़ा दिया।

पाकिस्तान में बच्ची के शव से मिले डीएनए का संदिग्ध से हुआ मिलान
24 January 2018
लाहौर: पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के कसूर शहर में हुए सात साल की लड़की के बलात्कार एवं हत्या के बहुचर्चित मामले में मुख्य संदिग्ध को गिरफ्तार कर लिया गया है. आरोपी पीड़ित लड़की का पड़ोसी था और उसके डीएनए का मिलान पीड़ित के शरीर पर मिले नमूने से हो गया है. पंजाब के मुख्यमंत्री शहबाज शरीफ ने संवाददाता सम्मेलन में यहां मंगलवार को बताया कि पुलिस ने इमरान अली को गिरफ्तार किया है जो सीरियल किलर है और उसने ही नाबालिग बच्ची का बलात्कार कर उसका कत्ल किया था. उन्होंने बताया कि मुल्जिम के डीएनए और पोलीग्राफ टेस्ट का मिलान हो गया है. उन्होंने कहा कि कानून में बदलाव का प्रस्ताव दिया गया है ताकि उसे सार्वजनिक तौर पर फांसी दी जा जा सके शहबाज ने कहा, ‘समूचे मुल्क की तरह ही मैं भी इस हिमायत में हूं कि इस शैतान को सार्वजनिक तौर पर फांसी दी जाए लेकिन हमें देखना होगा कि इस बाबत कानून में क्या बदलाव किए जा सकते हैं. मैंने मुख्य न्यायाधीश से मामले को जल्द से जल्द निपटाने की गुजारिश की है ताकि यह सीरियल किलर अपने अंजाम तक पहुंच सके.’ पुलिस सूत्रों ने पुष्टि की कि लड़की के पड़ोसी संदिग्ध अली (23) ने जांच टीम के सामने इकबाल-ए-जुर्म कर लिया है. जियो न्यूज ने सूत्रों का हवाला देते हुए कहा कि फोरेंसिक विशेषज्ञों ने इस बात की पुष्टि की है कि आरोपी अली का डीएनए सैंपल लड़की के शरीर पर मिले नमूनों से मिल रहा है. उसने कहा कि आरोपी का डीएनए उन सात लड़कियों के शरीर पर मिले नमूनों से भी मिल रहा है जिनके साथ पूर्व में ज्यादती हुई और उसके बाद उनकी हत्या की गई. सूत्रों के अनुसार अली पीड़ित जैनब के परिवार वालों से घुलामिला हुआ था और अक्सर उसके घर आता-जाता रहता था. उन्होंने कहा कि अली को दो हफ्ते से ज्यादा समय पहले हिरासत में लिया गया था, लेकिन लड़की के परिवार ने जब कहा कि वह दोषी नहीं हो सकता तो उसे छोड़ दिया गया. पंजाब सरकार के प्रवक्ता मलिक अहमद ने बताया कि अली को पंजाब के पाकपाटन जिले से गिरफ्तार किया गया था. गत पांच जनवरी को लड़की कसूर में अपने घर के पास से ट्यूशन जाते वक्त लापता हो गई थी. उसके माता पिता उमरा करने के लिए सऊदी अरब गए हुए थे और वह अपनी एक रिश्तेदार के साथ रह रही थी. अपहरण के बाद एक सीसीटीवी फुटेज में वह पीरोवाला रोड के पास एक अजनबी के साथ जाती दिखाई दी. इसके बाद नौ जनवरी को शाहबाज खान रोड के पास कचरे के एक ढेर से उसका शव बरामद किया. पोस्टमार्टम की रिपोर्ट में बलात्कार की पुष्टि हुई. पुलिस ने इस वारदात के बाद 1,000 से ज्यादा लोगों का डीएनए परीक्षण किया. सुप्रीम कोर्ट ने दोषी को पकड़ने के लिए पुलिस महानिरीक्षक को 72 घंटे की समयसीमा दी थी. घटना के खिलाफ देश में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुए थे.
वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम 2018 LIVE : दावोस में पीएम मोदी बोले, जलवायु परिवर्तन, आतंकवाद और देशों का आत्मकेंद्रित होना दुनिया के लिए बड़ा खतरा
23 January 2018
दावोस : स्विटजरलैंड के दावोस में चल रहे वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के उद्घाटन समारोह में संबोधन करते हुए पीएम मोदी ने सबसे पहले स्विटजरलैंड फेडेरेशन के प्रेसीडेंट और वहां मौजूद अन्य वर्ल्ड लीडर का धन्यवाद ज्ञापित किया. पीएम मोदी ने कहा कि गर्मजोशी से स्वागत के लिए स्विटजरलैंड की सरकार और यहां की नागरिकों को धन्यवाद. पीएम मोदी ने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री की यात्रा 1997 में हुई थी, जब पूर्व प्रधानमंत्री देवगौड़ा आए थे. तब भारत की जीडीपी 4 मिलियन डॉलर के करीब था. अब दो दशक बाद करीब 6 गुना ज्यादा है. उन्होंने कहा कि आज हम नेटवर्क सोसाइटी नहीं, बल्कि बिग डेटा की दुनिया में जी रहे हैं. 1997 में यूरो मुद्रा नहीं थी. उस वक्त न ब्रेक्जिट के आसार थे. उस वक्त बहुत कम लोगों ने ओसामा बिन लादेन का नाम और हैरी पॉटर का नाम सुना था. उस वक्त लोगों को शतरंज के खिलाड़ियों को क्प्यूटर के गेम से हारने का खतरा नहीं था. उस वक्त गूगल का आविष्कार नहीं था. उस वक्त अगर आप अमेजन का नाम नेट पर ढूंढटे तो नदियों का नाम और चिड़ियों का नाम मिलता. उस वक्त ट्वीट करना चिड़ियों का काम था. मगर आज दो दशक बाद बहुत जटिल नेटवर्क . उस जमाने में दावोस अपने समय से आगे थे और आज भी आगे हैं. पीएम मोदी ने कहा कि आज डेटा बहुत बड़ी संपदा है. आज डेटा के पहाड़ के पहाड़ बनते जा रहे हैं. उस पर नियंत्रण की होड़ लगी है. आज कहा जा रहा है कि जो डेटा पर अपना काबू रखेगा वही दुनिया में अपना ताकत कायम रखेगा. आज तेजी से बदलती तकनीक और विनाशकारी कार्यों से पहले से चली आ रही चुनौतियां और भी गंभीर होती जा रही है. उन्होंने कहा कि शांति, स्थिरता सुरक्षा अभी भी गंभीर चुनौती बने हुए हैं. इस वक्त हमारे सामने कई ऐसे सवाल हैं, जो मानवता और समुची पीढि़यों के लिए समुचति जवाब मांगते हैं. ये कौन सी शक्तियां हैं, जो सामंजस्य के ऊपर अलगाव को तहजीह देती है. वो कौन से साधन और रास्ते हैं, जिनके जरिये हम दरारों और दूरियों को मिटाकर एक सुहाने और सांझा भविष्य के सपने को साकार कर सकते हैं. भारत भारतीयता और भारतयी विरासत का प्रतिनिधि होने के नाते , मेरे लिए इस फोरम का विषय जिनता समकालीन है, उतना ही समयातीत भी है. समयातीत इसलिए क्योंकि भारत में अनादी काल से हम मानव मात्र को जोड़ने में विश्वास करते आएं उसे तोड़ने में नहीं, बांटने में नहीं. हजारों साल पहले संस्कृत में लिखा है कि भारतीय चिंतकों ने कहा है कि वसुधैव कटुंबकम यानी पूरी दुनिया एक परिवार है. इसलिए हम सब एक परिवार की तरह हैं. हमारी नियति में एक साझा सूत्र हमें जोड़ती है. वसुधैव कुंटुंबकम आज दरारों और दूरियों को मिटाने के लिए सार्थक और प्रांसगिक है. मगर आज एक एक कारण है कि इस विकट स्थिति से निकलने के लिए सहमति का आभाव है. परिवार में भी जहां एक ओर सद्भाव और सामंजस्य होता है. उन्होंने कहा कि दोस्तों मैं जिन चुनौतियों की ओर इशारा कर रहा हूं, उसका विस्तार बहुत व्यापक है. मैं यहां तीन प्रमुख चुनौतियों को जिक्र करना चाहता हूं. जो मानव सभ्यता के लिए खतरा पैदा कर रहा है. पहला खतरा- जलवायु परिवर्तन, द्वीप डूब रहे हैं, बहुत गर्मी और बहुत ठंड, बेहद बारिश और बेहद सूखा का प्रभाव दिन-ब-दिन बढ़ रहा है. दावोस में जो बर्फ पड़े हैं, वो 20 साल बाद हुआ है. आर्कटिक की बर्फ पिघल रही है. उपनिषद में तेन-संसार में रहते हुए उसका त्याग पूर्वक भोग करो और दूसरे की संपति का लालच मत करो. ढाई हजार साल पहले भगवान बुद्ध ने आवश्यक्ता के अनुसार सिद्धांत को अपने में शामिल किया,. महात्मा गांधी ने भी आवश्यक्ता अनुसार सिद्धांत को बल दिया था. उन्होंने कहा कि त्याग पूर्वक भोग से हम आवश्यकता से होते हुए लालच करते हुए हम प्रकृति का दोहन करने लगे है. दूसरा खतरा- पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवाद बड़ा खतरा है, लेकिन उससे भी बड़ा खतरा है कि लोग आतंकवाद को भी अच्छा आतंकवाद और बुरा आंतकवाद के रूप में परिभाषित करते हैं. भारतीय परंपरा में प्रकृति के साथ गहरे तालमेल के बारे में हजारों साल पहले हमारे शास्त्रों में मनुष्यमात्र को बताया गया कि भूमि माता, पूत्रो अहम पृथ्वया यानी हम लोग इस धरती की संतान हैं. उन्होंने कहा कि लोकतंत्र राजनीतिक व्यवस्था ही नहीं, बल्कि जीवन शैली है. हम भारतीय ये समझते हैं कि विविधता के विभिन्न आयामों संकल्प का कितना महत्व होता है. भारत में लोकतंत्र सवा सौ करोड़ लोगों के सपनों , आकांक्षाओं और उनके विकास के लिए एक रोडमैप भी तय करता है. भारत के करोड़ों मतदाताओं ने 2014 में किसी एक पार्टी को पूर्ण बहुमत दिया. हमने किसी एक वर्ग का या सीमित विकास का नहीं, बल्कि सबके विकास का संकल्प लिया. हमारी सरकार का मोटो है- सबका साथ, सबका विकास. हमारी योजना और नीति समावेशी है. हमारी हर चीज में समावेशी दर्शन देखने को मिलता है. उन्होंने कहा कि हम भारतीय अपने लोकतंत्र और विविधता पर गर्व करते हैं. धार्मिक, सांस्कृतिक, भाषाई और कई तरह की विविधता को लिए समाज के लिए लोकतंत्र महज राजनीतिक व्यवस्था ही नहीं, बल्कि जीवनशैली की एक व्यवस्था है. पीएम मोदी ने कहा कि 70 साल के स्वतंत्र भारत के इतिहास में पहली बार देश में एक एकीकृत कर व्यवस्था के रूप में लागू कर ली गई है. पारदर्शिता और जवाबदेही बढ़ाने के लिए हम टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर रहे हैं. पीएम मोदी ने कहा कि विकासशील देश होते हुए भी हम दुनिया की मदद कर रहे हैं. हम किसी भी देश के प्राकृतिक संसाधन का दोहन नहीं करते , बल्कि उनके साथ मिलकर उनके आवश्यकता के अनुसार उनका विकास करते हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय कानून का पालन करना जरूरी. पीएम मोदी ने संस्कृत के श्लोक का उदाहरण देते हुए दुनिया के सभी देशों के कल्याण की इच्छा जताई. पीएम मोदी ने कहा कि आइये दुनिया के दरारों और अनावश्यक दीवारों से मुक्ति मिले. भारत ने पूरी दुनिया को परिवार माना है. भाषण के अंत में पीएम मोदी ने वहां मौजूद तमाम वैश्विक नेतआों से भारत आने का आग्रह किया. उन्होंने कहा कि अगर आप समृद्धि के साथ शांति चाहते हैं तो भारत आएं. बता दें कि पीएम मोदी के भाषण से पहले स्विटरजलैंड फेडरेशन के प्रेसीडेंट ने अपने संबोधन में पीएम मोदी और वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में हिस्सा लेने वाले सभी देशों के प्रतिनिधियों का स्वागत किया. उन्होंने कहा कि जियो पोलिटिकल सेनारियों में हम सभी काफी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं. उन्होंने अपने संबोधन में जलवायु परिवर्तन और आतंकवाद समेत कई मुद्दों का जिक्र किया.
तुर्की के हमले में सीरिया के 18 नागरिकों की मौत, शनिवार को कुर्दिश लड़ाकों के खिलाफ शुरू किया था अभियान
22 January 2018
उत्तरी सीरिया में कुर्द के कब्जे वाले अफरीन से कुर्दिश लड़ाकों को खदेड़ने के लिए तुर्की की ओर से शुरू किए गए सैन्य अभियान में 18 नागरिकों की मौत हो गई. ब्रिटेन की मानवाधिकार संस्था सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स के मुताबिक, तुर्की द्वारा सीरिया और तुर्की के बीच के सीमावर्ती क्षेत्रों से कुर्दिश लड़ाकों को खदेड़ने के लिए किए गए शनिवार को किए गए हवाई हमलों और रविवार को किए गए जमीनी हमलों में अफरीन और आसपास के गांवों में मौतें हुईं. कुर्दिश कार्यकर्ताओं का कहना है कि अफरीन में रविवार को तुर्की के हमलों में मारे गए 11 लोगों में छह बच्चे और महिलाएं भी हैं जबकि इसमें 16 लोग घायल हुए हैं. सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद ने रविवार को कहा कि अफरीन पर तुर्की के गुस्से को तुर्की की नीतियों से अलग करके नहीं देखा जा सकता. तुर्की की ये नीतियां सीरिया में आतंकवाद और आतंकवादी समूहों को सहयोग देने के लिए सीरियाई संकट शुरू होने के पहले दिन से प्रभावी हैं. तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तइप एर्दोगन ने रविवार को कहा कि अफरीन में सैन्य अभियान थोड़े समय में समाप्त हो जाएगा. उन्होंने इस सैन्य अभियान को राष्ट्रीय संघर्ष बताया.
संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत सैय्यद अकबरुद्दीन ने पाकिस्तान और आंतकवाद को लेकर कही यह कहावत
20 January 2018
संयुक्त राष्ट्र: भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से कहा है कि पाकिस्तान को अच्छे और बुरे आतंकवाद में फर्क करने की मानसिकता को बदलने की जरूरत है. इसने परिषद से अपील की कि वह सीमा पार पनाहगाहों में बैठे आतंकवादियों की ओर से उत्पन्न चुनौतियों पर ध्यान केंद्रित करे. संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत सैय्यद अकबरुद्दीन ने सुरक्षा परिषद से कहा कि भारत का मानना है कि अफगानिस्तान अपना स्थान वापस हासिल करे और नयी दिल्ली अपने क्षेत्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के साथ करीबी तौर पर अफगानिस्तान में शांति, सुरक्षा, स्थायित्व और समृद्धि लाने को प्रतिबद्ध है. अफगानिस्तान मुद्दे पर विशेष मंत्री बैठक के दौरान अकबरुद्दीन ने कहा, “अफगानिस्तान में एक कहावत है जिसका सीधा मतलब यह होता है कि अगर निचले इलाके का पानी गंदा हो गया हो तो बिना समय गंवाए ऊंचाई पर जाकर इसे साफ कर लेना चाहिए. उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में शांति के लिए सिर्फ समर्थन में आवाज उठाना ही काफी नहीं है, हमारे क्षेत्र और अफगानिस्तान को सीमा पार पनाहगाहों से उत्पन्न आतंकी चुनौतियों का समाधान करने पर भी ध्यान देने की जरूरत है.
महाफिज सईद मुंबई हमलों का मास्टर माइंड है, पाकिस्तान चलाए उसके ऊपर मुकदमा : अमेरिका
19 January 2018
नई दिल्ली: अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र द्वारा आतंकवादी घोषित किए जा चुके हाफिज सईद के खिलाफ मुकदमा चलाए जाने की अपील की है. अमेरिका ने यह अपील ऐसे समय में की है जब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने टिप्पणी की है कि सईद के खिलाफ कोई कदम उठाया नहीं जा सकता. अब्बासी ने मंगलवार को एक साक्षात्कार में सईद को 'साहिब' कह कर संबोधित किया था. अब्बासी से जब यह पूछा गया कि सईद के खिलाफ कोई कदम क्यों नहीं उठाया गया, तो इसके जवाब में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा था, 'हाफिज सईद साहिब के खिलाफ पाकिस्तान में कोई मामला नहीं है. जब कोई मामला दर्ज हो, तभी कार्रवाई की जा सकती है.' इस पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हीथर नोर्ट ने कहा कि अमेरिका का मानना है कि सईद के खिलाफ मुकदमा चलाया जाना चाहिए और उन्होंने पाकिस्तान को इस बारे में बता दिया है. नोर्ट ने कल अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'हमारा मानना है कि उसके खिलाफ मुकदमा चलाया जाना चाहिए. आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से संबंध होने के कारण उसे लक्षित प्रतिबंधों के लिए ‘यूएनएससी 1267, अलकायदा प्रतिबंध समिति’ की सूची में शामिल किया गया है.' हीथर ने कहा, 'हमने पाकिस्तान सरकार के समक्ष पूरी स्पष्टता से अपनी बात और चिंताएं रख दी हैं. हमारा मानना है कि उसके खिलाफ मुकदमा चलाया जाना चाहिए.' उन्होंने एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि अमेरिका ने सईद के बारे में अब्बासी की टिप्पणियों वाली खबरें 'निश्चित ही' देखी हैं. हीथर ने कहा, 'हम उसे एक आतंकवादी और एक विदेशी आतंकवादी संगठन का हिस्सा मानते हैं. हमारा मानना है कि वह 2008 के मुंबई हमलों का मास्टरमाइंड था. इस हमले में अमेरिकियों समेत कई लोगों की मौत हो गई थी.' जमात उद दावा के प्रमुख सईद को नवंबर में पाकिस्तान में नजरबंदी से रिहा किया गया था. अमेरिका जमात उद दावा (जेयूडी) को लश्कर का सहयोगी मानता है. लश्कर की स्थापना सईद ने वर्ष 1987 में की थी. लश्कर 2008 के मुंबई हमले करने के लिए जिम्मेदार है. इस हमले में 166 लोगों की मौत हो गई थी. हीथर ने कहा कि ट्रंप प्रशासन उम्मीद करता है कि पाकिस्तान आतंकवादी मामलों से निपटने में अधिक योगदान दे. उन्होंने कहा, 'हम इस बात को लेकर पूरी तरह स्पष्ट रहे हैं. आप सभी हमारे द्वारा करीब दो सप्ताह पहले दी गई इस सूचना के बारे में जानते हैं कि हमने पाकिस्तान को सुरक्षा के लिए आर्थिक मदद रोकने का फैसला किया है हीथर ने कहा कि अमेरिका-पाकिस्तान संबंध के मामले पर पूरा प्रशासन एकजुट है. अमेरिका ने इस माह ही शुरूआत में पाकिस्तान को दी जाने वाली दो अरब डॉलर की सुरक्षा सहायता रोक दी थी और उस पर आतंकवाद के खिलाफ पर्याप्त कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया था. इसके जवाब में पाकिस्तान ने अमेरिका के साथ सैन्य एवं खुफिया सहयोग रोक दिया था. अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने कल कहा था कि उसे पाकिस्तान से इस बारे में कोई औपचारिक सूचना नहीं मिली है.
मैं चाहता हूं कि दुनिया के हर हिस्से से प्रवासी आएं : डोनाल्ड ट्रंप’
17 January 2018
वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वह चाहते हैं कि दुनिया के हर हिस्से से प्रवासी आएं. उनका यह बयान तब आया है जब व्हाइट हाउस योग्यता आधारित आव्रजन व्यवस्था पर जोर दे रहा है. ट्रंप ने हाल ही में उनके बयान को लेकर पैदा हुए विवाद पर एक सवाल के जवाब में कहा, ‘मैं चाहता हूं कि प्रवासी हर जगह से आएं.’ ट्रंप ने कथित तौर पर कहा था कि वह चाहते हैं कि नॉर्वे से और अधिक लोग आए इससे पहले व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने कहा कि राष्ट्रपति आवेदक के देश, धर्म और जातीयता पर ध्यान दिए बिना योग्यता आधारित व्यवस्था पर जोर दे रहे हैं. सैंडर्स ने कहा, ‘वह चाहते हैं कि प्रवासी हर कहीं से आए लेकिन वह योग्यता आधारित व्यवस्था के जरिए ऐसा करना चाहते हैं उन्होंने एक सवाल के जवाब ने कहा, ‘योग्यता आधारित व्यवस्था नस्ल, धर्म या देश पर आधारित नहीं है. यह असल में योग्यता पर आधारित है.’ सैंडर्स ने कहा कि यह ‘अधिक निष्पक्ष व्यवस्था’ है और एक साल पहले डेमोक्रेट सदस्यों ने इसका समर्थन किया था.
काबुल में भारतीय दूतावास परिसर में गिरा रॉकेट, कोई हताहत नहीं’
16 January 2018
नई दिल्ली: अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में भारतीय दूतावास के परिसर में एक रॉकेट गिरा, लेकिन मिशन के सभी कर्मचारी सुरक्षित हैं. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि घटना में कोई आग नहीं लगी और किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. उन्होंने ट्वीट किया, 'काबुल में हमारे दूतावास के परिसर में कुछ समय पहले एक रॉकेट आकर गिरा, जिससे दूतावास परिसर के पीछे वाले हिस्से में इमारत को थोड़ा नुकसान हुआ.' कुमार ने यह भी बताया कि वहां भारत के चार्ज डि अफेयर्स ने बताया कि दूतावास के सभी कर्मी सुरक्षित हैं यह अभी स्पष्ट नहीं है कि हमले में भारतीय दूतावास को ही निशाना बनाया गया था जो कि अफगानिस्तान की राजधानी के उच्च सुरक्षा वाले राजनयिक क्षेत्र में स्थित है
अपने ऊपर लगे आरोपों के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप बोले, ‘मैं नस्लवादी नहीं हूं’
15 January 2018
वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कुछ देशों के प्रवासियों के खिलाफ दिए कथित आपत्तिजनक बयान के बाद उत्पन्न विवाद को खत्म करने की मांग करते हुए कहा कि वह नस्लवादी नहीं हैं. द्विदलीय समूह के सांसदों के साथ पिछले सप्ताह हुई एक बैठक में उन्होंने कहा था कि बैठक में शामिल कुछ प्रतिभागी खास घटिया देशों के आव्रजकों के लिए दबाव डाल रहे हैं. ट्रंप को जिस कथित टिप्पणी के खिलाफ व्यापक स्तर पर आलोचना का सामना करना पड़ा वह उन्होंने आव्रजन में सुधारों को लेकर सांसदों के साथ गुरुवार को हुई बैठक में की थी. फ्लोरिडा में सदन में सत्तापक्ष के नेता केविन मैक्कार्थी के साथ रात्रि भोज के लिये ट्रंप इंटरनेशनल गोल्फ कोर्स जाते हुये अमेरिकी राष्ट्रपति ने पत्रकारों से कहा, ‘‘नहीं-नहीं मैं नस्लवादी नहीं हूं.जितने भी लोगों का आपने अभी तक साक्षात्कार किया होगा उनमें से मैं सबसे कम नस्लवादी व्यक्ति हूं. यह मैं आपकों बता सकता हूं ट्रंप की नस्लवादी टिप्पणी करे लेकर उनके राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों द्वारा की जा रही आलोचना के संबंध में किए गये सवाल पर उन्होंने (ट्रंप ने) यह प्रतिक्रिया दी.
जापान में बर्ड फ्लू के खतरे के बीच 91000 मुर्गियां मारी गईं
13 January 2018
टोक्यो: जापान के अधिकारियों ने शुक्रवार को दक्षिण-पश्चिम जापान के एक फार्म में कई जानवरों के 'बर्ड फ्लू' वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद लगभग 91,000 मुर्गियों को मारने की घोषणा की है. समाचार एजेंसी 'एफे' ने क्षेत्रीय अधिकारियों के हवाले से बताया कि शिकोकू द्वीप के कागावा प्रांत में एक फार्म में यह नया मामला तब सामने आया, जब इस सप्ताह 50 से ज्यादा मृत मुर्गियों में अत्यधिक हानिकारक संक्रमण एच5 वायरस का पता चला. जापानी समाचार एजेंसी 'क्योदो' के अनुसार, मुर्गियों को मारने की प्रक्रिया गुरुवार आधी रात से पहले ही शुरू हो गई और लगभग 24 घंटे में समाप्त हो जाएगी. 10 किमी के दायरे में अंडों और पशुओं का आवागमन रोक दिया गया है, जबकि क्षेत्र को कीटनाशक के साथ साफ किया गया है. कृषि और स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ बैठक के बाद संवाददाता सम्मेलन में सरकार के प्रवक्ता योशिहिदे सुगा ने क्षेत्र के बाहर 'बर्ड फ्लू' के अन्य मामलों की संभावना जताई
कैलिफोर्निया में आई बाढ़, मिट्टी धंसने से 17 की मौत
12 January 2018
लॉस एंजिलस: कैलिफोर्निया में बाढ़ और मिट्टी धंसने से 17 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हुई है. वहीं, अमेरिकी प्रशासन कम से कम 20 लापता लोगों की खोज में जुटा है. समाचार एजेंसी एफे के अनुसार, सांता बारबरा काउंटी के शेरिफ बिल ब्राउन ने कहा कि बचाव दल लापता लोगों को ढूंढ़ने के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं. उन्होंने आगे कहा कि लॉस एंजिल्स के उत्तर पश्चिम में स्थित मॉन्टेसिटो में आई आपदा के कारण 28 लोग घायल हो गए है. शेरिफ ने बुधवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'हालांकि हम चाहते हैं कि ऐसा न हो, लेकिन इस संख्या में बढ़ोतरी होने की आशंका है क्योंकि हम अभी भी लापता हुए लोगों की तलाश कर रहे हैं मिट्टी धंसने की यह घटना दिसंबर उस इलाके में हुई है जो दिसंबर 2017 में जंगल में लगी आग की चपेट में आया था और इलाके में मूसलाधार बारिश भी हुई थी, जिस दौरान 15 मिनट से भी कम समय में लगभग 2.54 सेंटीमीटर बारिश हुई थी. इससे लगभग 100 घर पूरी तरह ध्वस्त हो गए थे और 300 अन्य क्षतिग्रस्त हो गए. अधिकारियों ने मंगलवार को निकासी के आदेश दिए और निवासियों से ऊंचे इलाकों में जाने को कहा था. प्रभावित इलाका कैलिफोर्निया के लोकप्रिय पर्यटक स्थलों में शुमार है, जहां घरों की कीमत 14 से 40 लाख डॉलर के बीच है. यहां मशहूर टीवी होस्ट एलेन डी जेनरेस और ओपरा विनफ्रे के घर भी हैं. सांता बारबरा काउंटी के आपातकालीन प्रबंधन कार्यालय ने बुधवार को घोषणा की कि इन सभी घरों में 'लंबे समय तक' पीने का साफ पानी और बिजली मुहैया नहीं कराई जा सकेगी
सिगरेट देने से मना करने पर भारतीय मूल के दुकानदार की लंदन में पीटकर हत्‍या
11 January 2018
लंदन: भारतीय मूल के एक दुकानदार की उत्तरी लंदन में पीट कर हत्या कर दी गई. दुकानदार ने ब्रिटेन के एक किशोर को कम उम्र के होने की वजह से सिगरेट देने से मना कर दिया था, जिसके बाद उसने पटेल पर हमला कर दिया. विजय पटेल पर शहर के मिल हिल क्षेत्र में शनिवार की रात को हमला हुआ. उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन सोमवार को उनकी चोट की वजह से मौत हो गई्. पटेल के परिवार वालों ने अस्पताल से उनकी तस्वीर इस हमले में शामिल आरोपी को पकड़ने की अपील के साथ जारी की है. 16 वर्षीय एक लड़के को आज इस संबंध में अदालत में पेश किया गया है. साल 2006 में पटेल अपने परिवार और पत्नी विभा के साथ लंदन आ गए थे. पटेल के दोस्तों ने उन्हें ‘ईमानदार’ और ‘मेहनती’ व्यक्ति बताया है पटेल के परिवार के सदस्यों की मदद करने को धन इकट्ठा करने के लिए ऑनलाइन पेज चलाया जा रहा है और अब तक लगभग 13 लाख रुपये जुटा लिए गए हैं
दावोस विश्व आर्थिक मंच में हिस्सा लेंगे डोनाल्ड ट्रंप, पीएम मोदी से मुलाकात भी संभव
10 January 2018
वॉशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इस महीने दावोस में विश्व आर्थिक मंच में हिस्सा लेंगे और कयास लगाए जा रहे हैं कि इस सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनकी मुलाकात की संभावना बन रही है. यह 18 वर्षों में पहली बार होगा जब अमेरिका के राष्ट्रपति वैश्विक आर्थिक नेताओं की वार्षिक बैठक में हिस्सा लेंगे. बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी 22 जनवरी को स्विटजरलैंड की दो दिवसीय यात्रा पर जाएंगे और दावोस में विश्व आर्थिक मंच (डब्लूईएफ) के पूर्ण सत्र में भाषण देंगे. वर्ष 1997 के बाद ऐसा पहली बार होगा जब कोई भारतीय प्रधानमंत्री दावोस शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे. व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने कहा, ‘राष्ट्रपति वैश्विक नेताओं के साथ अपने ‘अमेरिका पहले’ के एजेंडे को आगे बढ़ाने के अवसरों का स्वागत करते हैं.’ उन्होंने कहा कि ट्रंप ‘अमेरिकी कारोबार, अमेरिकी उद्योगों और अमेरिकी कर्मियों’ को मजबूत करने की अपनी नीतियों को प्रोत्साहित करना चाहते हैं.’ सारा ने कहा कि द्विपक्षीय बैठकों समेत दावोस में राष्ट्रपति की यात्रा का कार्यक्रम तय किया जा रहा है. उन्होंने कहा, ‘राष्ट्रपति का जो संदेश यहां है, वह वही संदेश वहां लेकर जाएंगे. यही संदेश वह एशिया के अपने दौरे में लेकर गए थे. उनका एजेंडा ‘अमेरिका पहले’ है.’ सारा ने कहा कि ट्रंप का ध्यान अमेरिकी कारोबार और अमेरिकी कर्मियों को मजबूत करने वाली नीतियों को प्रोत्साहित करने पर ‘अब भी 100 प्रतिशत केंद्रित है और वह इसे लेकर प्रतिबद्ध हैं.’ उन्होंने कहा कि कैबिनेट और प्रशासन के कई वरिष्ठ सदस्य इस समारोह का हिस्सा होंगे. विश्व आर्थिक मंच की वार्षिक बैठक 2018 स्विट्जरलैंड के दावोस-क्लोस्टर्स में इस महीने बाद में आयोजित होगी जिसका विषय ‘‘क्रिएटिंग ए शेयर्ड फ्यूचर इन ए फ्रैक्चर्ड वर्ल्ड’ होगा.
उत्तर और दक्षिण कोरिया के बीच दो साल बाद बातचीत, किम-जोंग-उन ओलंपिक में एथलीट भेजने के लिए तैयार
9 January 2018
उत्तर और दक्षिण कोरिया के बीच दो साल बाद बातचीत, किम-जोंग-उन ओलंपिक में एथलीट भेजने के लिए तैयार उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन (फाइल फोटो ) उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार कार्यक्रम को लेकर पिछले कुछ महीनों से जारी तनाव के बीच उत्तर और दक्षिण कोरिया ने दो साल से अधिक समय बाद आज अपनी पहली आधिकारिक वार्ता की जिसमें उत्तर कोरिया ने आगामी शीतकालीन ओलंपिक में एथलीट और एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल भेजने का प्रस्ताव रखा. दक्षिण कोरिया ने खेलों के आयोजन के समय ही उन परिवारों का पुनर्मिलन आयोजित किए जाने की अपील की जो 1950-53 कोरियाई युद्ध के कारण अलग हो गए थे. प्रायद्वीप को विभाजित करने वाले विसैन्यीकृत क्षेत्र में स्थित संघर्ष विराम गांव पनमुनजोम में दोनो देशों के बीच बातचीत हुई. उत्तर कोरिया का समूह सैन्य सीमांकन रेखा पर चलकर दक्षिण कोरिया स्थित पीस हाउस परिसर पहुंचा. दक्षिण कोरिया के एकीकरण मंत्री चो म्योंग ग्यों और उत्तर कोरिया के मुख्य प्रतिनिधि री सोन ग्वोन ने ‘पीस हाउस’ के प्रवेश पर और बाद में वार्ता की मेज पर एक दूसरे से हाथ मिलाया उत्तर कोरिया की मानक परंपरा के अनुसार री ने अपने कोट के कॉलर के बाईं ओर एक बैज लगा रखा था जिस पर देश के संस्थापक किम इल सुंग और उनके बेटे किम जोंग इल की तस्वीर थी. चो ने भी दक्षिण कोरिया के झंडे वाला बैज लगा रखा था. दक्षिण कोरिया के उप एकीकरण मंत्री चुन हाए सुंग ने संवाददाताओं को बताया कि उत्तर कोरिया के अपने एथलीटों के अलावा एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल, समर्थकों, कलाकारों और तायक्वांडो टीम को खेलों में भेजने का प्रस्ताव रखा है. उन्होंने बताया कि दक्षिण कोरिया ने दोनों पक्षों के उद्घाटन समारोह में एक साथ मार्च करने का सुझाव रखा और परिवारों के पुनर्मिलन के पुनरारंभ की अपील के अलावा ‘‘अनावश्यक संघर्षों’’ को रोकने के लिए सैन्य वार्ता एवं रेड क्रॉस वार्ता का भी अनुरोध किया.
अमेरिका में माइनस 35 तो लद्दाख में भी माइनस 30 डिग्री सेल्सियस तक गिरा पारा
8 January 2018
नई दिल्ली: उत्तर भारत ही नहीं उत्तर अमेरिका में भी रिकॉर्ड तोड़ सर्दी पड़ रही है.. सर्द तूफ़ान ग्रेसन के चलते अमेरिका के कई इलाकों में तापमान माइनस 35 डिग्री सेल्सियस तक चला गया है. इसमें अगर सर्द हवा का असर भी शामिल कर लें जिसे 'विंड चिल' फैक्टर कहते हैं तो ये ठंड और भी भयानक महसूस हो रही है. अमेरिका के ईस्ट कोस्ट और मिडवेस्ट में हालत सबसे ज़्यादा ख़राब हैं जहां कई इलाकों में ध्रुवीय आर्कटिक से आ रही हवाओं ने जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है. इन इलाकों में वर्मोंट, न्यूयॉर्क, वर्जीनिया, वेस्ट वर्जीनिया, मैरीलैंड, मेन और न्यू हैम्पशायर शामिल हैं. सर्द तूफ़ान ग्रेसन के असर से इतनी ठंड पड़ गई है कि इसे बॉम्ब साइक्लोन भी कहा जा रहा है. कड़ाके की ठंड की वजह से मशहूर न्याग्रा जल प्रपात भी जम गया है. यहां तापमान माइनस 23 डिग्री तक गिर चुका है. अमेरिका और कनाडा की सीमा पर स्थित इस जल प्रपात को देखने दुनिया भर से सैलानी आते हैं लेकिन इन दिनों इसे जमा हुआ देखने के लिए आने वालों की भी कमी नहीं है मौसम विभाग के मुताबिक कुछ-कुछ साल के अंतर पर सर्दी इतनी भयानक पड़ती है. कुछ ऐसी ही ठंड फरवरी 2015 में भी पड़ी थी. इन हालात में सर्दियों से बचने के लिए लोगों को ख़ास ऐहतियात बरतने की सलाह दी जा रही है. बर्फ़बारी की वजह से हज़ारों घरों में बिजली पानी की दिक्कत पैदा हो गई है. हज़ारों विमान सेवाओं को रद्द करना पड़ा है. जानकार अब ये चर्चा कर रहे हैं कि इस तरह भीषण सर्द मौसम के पीछे क्या जलवायु परिवर्तन की भूमिका है. और अगर है तो कितनी वहीं भारत के लद्दाख में भी बर्फ़बारी के कारण भी इलाके का संपर्क ज़मीन के रास्ते से बाकी देश से कटा हुआ है. यहां तापमान माइनस 20 से माइनस 30 डिग्री तक गिर गया है. कई जगहों पर तो नदियां जम चुकी हैं. कुछ जगहों पर तो बर्फ़ नदियों के ऊपर इस तरह बह रही है. कई जगहों पर पानी के पाइप फट गए हैं. पाइपों और नलों को आग लगाकर गर्म किया जा रहा है ताकि बर्फ़ पिघले और पानी आए.
संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका ने ईरान से कहा, आप जो कर रहे हैं, उसे दुनिया देख रही है
6 January 2018
ईरान में हो रहे देशव्यापी प्रदर्शनों के बीच वहां की स्थिति पर चर्चा के लिये बुलायी गयी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपात बैठक के दौरान अमेरिका की दूत निक्की हेली ने इस्लामी राष्ट्र को चेतावनी देते हुए कहा, ‘‘आप जो कर रहे हैं, उसे दुनिया देख रही है.’’ ईरान में मौजूदा स्थिति पर चर्चा के लिये अमेरिका के अनुरोध पर न्यूयार्क स्थित संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में सुरक्षा परिषद के 15 सदस्य देश जुटे थे. समूचे ईरान में सप्ताह भर से अधिक समय से चल रहे सरकार विरोधी प्रदर्शनों में करीब 21 लोगों की मौत हो गयी है. बैठक के दौरान सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्यों में से तीन सदस्य देश फ्रांस, रूस और चीन ने ईरान का साथ देते हुए कहा कि 15 सदस्यीय सुरक्षा परिषद ईरान में मौजूदा स्थिति पर चर्चा के लिये उचित मंच नहीं है क्योंकि इससे अंतरराष्ट्रीय शांति एवं सुरक्षा को खतरा पैदा नहीं होता है संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक में निक्की ने कहा, ‘‘ईरान के लोग अब सड़कों पर उतर रहे हैं. वे बस वही मांग रहे हैं जिससे कोई सरकार कानून इनकार नहीं कर सकती है और वो है उनके मानवाधिकार एवं मौलिक आजादी. वे मदद के लिये गुहार लगा रहे हैं कि हमारे बारे में सोचो. अगर इस संस्था के मूल सिद्धांत कुछ मायने रखते हैं तो हम सिर्फ उनका रूदन नहीं सुनेंगे बल्कि अंतत: उनका जवाब देंगे. ईरानी शासन पर अब नजर है. आप जो कर रहे हैं, उसे दुनिया देख रही है.’’ ऐसा लग रहा है कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प प्रदर्शनकारियों के समर्थन में आ गये हैं
अमेरिका ने अल-कायदा के तीन आतंकियों को अंतरराष्‍ट्रीय आतंकवादी घोषित किया
5 January 2018
वाशिंगटन: अमेरिकी विदेश विभाग ने गुरुवार को तीन लोगों को विशेष रूप से नामित वैश्विक आतंकवादी घोषित किया है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, मोहम्मद अल-गजाली, अबुकर अली अदन और वनास अल-फकीह पर सख्त प्रतिबंध लगाए जाएंगे विदेश विभाग ने कहा कि वे "अल-कायदा के सहयोगी संगठनों से जुड़े हुए हैं" जिन्हें अमेरिका द्वारा विदेशी आतंकवादी संगठनों और आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए वैश्विक आतंकवादी घोषित किया गया है. इन्हें वैश्विक आतंकवादी घोषित किए जाने से अमेरिकी न्यायाधिकार क्षेत्र में आने वाली इनकी सारी संपत्ति और लाभ के हित अवरुद्ध हो गए हैं और अमेरिकी नागरिकों पर इनके साथ किसी प्रकार की लेनदेन पर रोक लगा दी गई है अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तान को 1.1 अरब डॉलर से अधिक की सुरक्षा सहायता राशि रोकने के ट्रंप प्रशासन के फैसले का मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के खिलाफ इस्लामाबाद के कोई कदम नहीं उठाने से कोई लेना देना नहीं है। अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तान को 1.1 अरब डॉलर से अधिक की सुरक्षा सहायता राशि रोकने के ट्रंप प्रशासन के फैसले का मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के खिलाफ इस्लामाबाद के कोई कदम नहीं उठाने से कोई लेना देना नहीं है
पाक के नए वीडियो में जाधव ने फिर कबूला 'जुर्म', कहा- मैं आज भी नौसेना का अधिकारी
4 January 2018
नई दिल्ली: पाकिस्‍तान ने कुलभूषण जाधव का एक और वीडियो जारी किया है. इस वीडियो में जाधव कह रहे हैं कि मां चिंता मत करो. यहां (पाकिस्तान में) मेरी देखभाल की जा रही है और इन्‍होंने मुझे छुआ तक नहीं है. वह (मां) मुझ पर विश्‍वास करेंगी अगर मुझे व्यक्तिगत रूप से देख लेंगी. इस वीडियो में जाधव अपना अपराध भी कबूल कर रहे हैं और कह रहे हैं कि मुझे भारतीय जनता, भारत सरकार और नौसेना के लोगों से एक बहुत ही महत्वपूर्ण बात करनी है कि मेरी भारतीय नौसेना की नौकरी नहीं गई है और मैं आज भी नौसेना का अधिकारी हूं. इस वीडियो में पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव अपनी मां और पत्नी के साथ मुलाक़ात का ब्यौरा कुछ इस तरह से दे रहे हैं, जिससे पाकिस्तान के प्रोपेगेंडा साफ दिख रहा है. डेढ़ मिनट के इस वीडियो में जाधव ने मुलाकात के दौरान मौजूद भारतीय उप उच्चायुक्त जेपी सिंह पर अपनी मां को डांटने का आरोप लगाया है, जबकि मुलाकात के दौरान भारतीय उप उच्चायुक्त को शीशे की एक अलग दीवार के पीछे रखा गया था. जहां से वह जाधव और उनकी मां पत्नी के बीच की बातचीत को सुन ही नहीं सकते थे और न ही किसी तरह से हस्तक्षेप कर सकते थे. इस वीडियो के पीछे पाकिस्तान के झूठ की पोल इससे ही खुल जाती है कि पाकिस्तान ख़ुद भी ये कह चुका है कि डिप्लोमैट को मुलाक़ात के दौरान किसी तरह की बातचीत में शामिल नहीं होने दिया गया. इस वीडियो में कुलभूषण जाधव ने कहा है कि उनकी मां उनसे मिलकर संतुष्ट हुई थी. जाधव के मुंह से ये भी कहलवाया गया है कि पाकिस्तान उनको अच्छे से रख रहा है तो अच्छा व्यवहार कर रहा है और छू तक नहीं रहा. इसमें जाधव से एक बार फिर ये दावा करवाया गया है.
डोनाल्ड ट्रंप की किम जोंग उन को चेतावनी, न्यूक्लियर बटन मेरे पास भी है, जो ज़्यादा बड़ा और ताकतवर है
3 January 2018
वाशिंगटन: उत्तरी कोरिया के शासक किम जोंग उन द्वारा परमाणु हथियार चलाने का बटन हर समय उनके पास मौजूद रहने की धमकी के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को चेताया कि उनके पास भी परमाणु बटन (न्यूक्लियर बटन) है, जो किम के बटन की तुलना में 'कहीं ज़्यादा बड़ा और ज़्यादा शक्तिशाली' है. अमेरिकी राष्ट्रपति ने माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर पर लिखा, "उत्तरी कोरिया के नेता किम जोंग उन ने हाल ही में बयान दिया है कि 'न्यूक्लियर बटन हर वक्त उनकी मेज़ पर रहता है.' क्या उनके छोटे-से और खाने की किल्लत के शिकार प्रशासन में से कोई उन्हें जानकारी देगा कि मेरे पास भी न्यूक्लियर बटन है, लेकिन वह कहीं ज़्यादा बड़ा और उनके बटन के मुकाबले ज़्यादा शक्तिशाली है और हां, मेरा बटन काम भी करता है डोनाल्ड ट्रंप की यह चेतावनी किम जोंग उन द्वारा अपने वार्षिक नववर्ष संबोधन के दौरान न्यूक्लियर बटन अपनी मेज़ पर तैयार रहने की धमकी के बाद आया है, हालांकि साथ ही किम जोंग उन ने यह भी कहा था कि वह बातचीत के लिए तैयार हैं, और उनका देश अगले माह होने वाले प्योंगचांग खेलों में हिस्सा भी लेगा दक्षिण कोरिया ने भी मंगलवार को इस पर सकारात्मक प्रतिक्रिया देते हुए उत्तरी कोरिया से 9 जनवरी को उच्चस्तरीय वार्ता का प्रस्ताव दिया था. लेकिन संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निकी हेली ने प्रस्तावित वार्ता को खारिज करते हुए उसे 'बैन्ड-एड' की संज्ञा दी थी और कहा था कि अमेरिका कभी परमाणु-शक्ति संपन्न उत्तरी कोरिया को बर्दाश्त नहीं करेगा.
इजरायल ने आतंकी हमले की योजना बना रहे 17 फिलिस्तीनियों को किया गिरफ्तार
2 January 2018
जेरुसलम: इजरायल ने गाजा स्थित हमास संचालन की ओर से आतंकी हमले की योजना बना रहे 17 फिलिस्तीनियों को गिरफ्तार कर लिया है. इजरायल सुरक्षा एजेंसी (आईएसए) ने एक बयान में यह जानकारी दी. एक समाचार एजेंसी की खबर के मुताबिक, आईएसए ने सोमवार को कहा कि जांच के मुताबिक, एक हमास संचालक अबदल्लाह अरार इस सेल के पीछे था. आईएसए ने उसकी पहचान एक पूर्व जेल कैदी के रूप में की है जिसने 2005 में इजरायल नागरिक के अपहरण में शामिल होने के लिए जेल काटी थी. उसे 2011 में शालीत कैदियों के अदला बदली सौदे में रिहा किया गया और गाजा पट्टी से निकाला दिया गया था. आईएसए के मुताबिक, उस पर दक्षिणी वेस्ट बैंक के जबा गांव के निवासी अला सलीम द्वारा निर्देशित होने का संदेह है, ताकि एक सेल स्थापित किया जा सके और एम -16 को खरीद कर हमला किया जा सके. एजेंसी ने कहा कि सलीम ने अपने साथी जबा निवासी रियान तौम से संपर्क किया और एम-16 खरीदने और उसे भारी मात्रा में पैसा जुटाने में सहायता देने का अनुरोध किया. आईएसए के एक अधिकारी ने बयान में कहा, "हाल ही में जुडिया और सामरिया (वेस्ट बैंक) में हमास के सदस्यों के माध्यम से हमलों को आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित किया गया." हमास एक इस्लामी संगठन है, जो फिलीस्तीनी घेरे के मुहासिरे से संचलित किया जाता है. वेस्ट बैंक और गाजा पट्टी पर हिंसा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा छह दिसंबर को एक बयान में जेरुसलम को इजरायल की राजधानी के रूप में मान्यता देने का बाद बढ़ गई है.
पाकिस्तान को बड़ा झटका : 25 करोड़ 50 लाख डॉलर की सहायता राशि रोक सकता है अमेरिका
30 December 2017
न्यूयॉर्क: अमेरिका जल्द ही पाकिस्तान को एक बड़ा झटका दे सकता है. दरअसल अमेरिकी सरकार पाकिस्तान को दी जाने वाले 25 करोड़ 50 लाख डॉलर की सहायता राशि रोकने पर विचार कर रही है. इससे साफ है कि ट्रंप प्रशासन आतंकवादी संगठनों के खिलाफ पाकिस्तान द्वारा कार्रवाई ना किए जाने से असंतुष्ट है. न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर के मुताबिक, क्या पाकिस्तान को सहायता राशि ना देकर ट्रंप उन्हें आतंकवाद विरोधी अभियानों पर सहयोग करने में नाकाम रहने पर सजा की चेतावनी देंगे, ट्रंप प्रशासन में इस बात को लेकर आंतरिक बहस छिड़ी हुई है. खबर में कहा गया है कि अमेरिका और पाकिस्तान के बीच संबंध तब से तनावपूर्ण बने हुए है जब राष्ट्रपति ने घोषणा की थी कि पाकिस्तान ‘‘अराजकता, हिंसा और आतंकवाद फैलाने वाले लोगों को पनाहगाह देता है.’’ पाकिस्तान को वर्ष 2002 से 33 अरब डॉलर से ज्यादा की सहायता मुहैया कराने वाले अमेरिका ने अगस्त में कहा था कि जब तक पाकिस्तान आतंकवादी समूहों के खिलाफ और अधिक कार्रवाई नहीं करता तब तक वह 25 करोड़ 50 लाख डॉलर की धनराशि रोक रहा है. अखबार ने कहा, ‘‘इस महीने वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी इस पर फैसला लेने के लिए मिले कि धनराशि के बारे में क्या किया जाए और अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि अंतिम निर्णय आगामी सप्ताहों में लिया जा सकता है.’’ अखबार की यह रिपोर्ट अमेरिकी उप राष्ट्रपति माइकल पेंस के कबुल में दिये उस बयान के कुछ दिन बाद आया है जिसमें उन्होंने कहा था कि ट्रंप प्रशासन ने पाकिस्तान को नोटिस पर रखा हुआ है. खबर के मुताबिक, पाकिस्तान ने अमेरिका को अपहृत कनाडाई-अमेरिकी परिवार से संपर्क करने से मना कर दिया था. परिवार को इसी साल छुड़ाया गया था. न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर में कहा गया है, ‘‘अब ट्रंप प्रशासन इस बात पर गंभीरता से विचार कर रहा है कि क्या पाकिस्तान में सक्रिय आतंकवादी नेटवर्कों के खिलाफ उसके कार्रवाई ना करने पर असंतोष के रूप में 25 करोड़ 50 लाख डॉलर की सहायता राशि रोकी जाए पाकिस्तान की सेना ने बृहस्पतिवार को अमेरिका को उसकी सरजमीं पर सशस्त्र समूहों के खिलाफ एकतरफा कार्रवाई करने की संभावना के खिलाफ चेतावनी दी थी. पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने इस बात को खारिज कर दिया कि पाकिस्तान सशस्त्र समूहों से लड़ने के लिए कुछ खास नहीं कर रहा है.
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का 12 जनवरी को होगा मेडिकल परीक्षण
29 December 2017
व्हाइट हाउस ने कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की 12 जनवरी को औपचारिक चिकित्सकीय जांच होगी. व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने राष्ट्रपति की होने वाली परंपरागत जांच की तिथि की आज पुष्टि की. व्हाइट हाउस ने पहले कहा था कि ट्रंप की जांच साल की शुरूआत में वाल्टर रीड नेशनल मिलिट्री मेडिकल सेंटर में होगी. सारा ने कहा कि जांच की रिपोर्ट आने के बाद उसे जारी किया जाएगा. 71 वर्षीय राष्ट्रपति ने अपने स्वास्थ्य के बारे में सीमित जानकारी जारी की है. उनकी चुनाव प्रचार मुहिम के दौरान उनके गैस्ट्रोएंट्रोलॉजिस्ट ने चार पैरे का एक पत्र जारी करके कहा था कि वह ‘‘अब तक चुने गए सबसे स्वस्थ व्यक्ति’’ होंगे. ट्रंप ने ‘द डॉ. ओज शो’ में अपने कोलेस्ट्रोल के स्तर और कैंसर संबंधी जांच के परिणाम जारी करते हुए कहा था कि वह अच्छा महसूस करते हैं. उल्लेखनीय है कि कुछ सप्ताह पहले एक संबोधन के दौरान ट्रंप के शब्द लड़खड़ाते प्रतीत हुए थे जिसके बाद उनके स्वास्थ्य को लेकर कई अटकलें लगने लगी थीं. व्हाइट हाउस ने कहा कि उनका गला सूख गया था
काबुल में कई विस्फोट, कम से कम चालीस लोगों की मौत, कई घायल: गृह मंत्रालय
28 December 2017
काबुल: अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में एक शिया सांस्कृतिक केंद्र में आज हुए कई विस्फोटों में कम से कम 40 लोग मारे गए और कई अन्य घायल हो गए. गृह मंत्रालय के उप प्रवक्ता नसरत रहीमी ने बताया कि यह हमला तबायान सांस्कृतिक केंद्र को निशाना बनाकर किया गया. विस्फोट उस समय हुए जब वहां अफगानिस्तान पर पूर्व सोवियत संघ के आक्रमण के 38 वर्ष पूरे होने के मौके पर एक कार्यक्रम चल रहा था. यह केंद्र अफगान वॉइस एजेंसी के पास है. पहले खबरें थीं कि संभवत: इसी मीडिया प्रतिष्ठान को निशाना बनाया गया है.
हाफिज सईद कर चुका है 2018 के चुनाव की तैयारी, लाहौर में पार्टी कार्यालय खोला
26 December 2017
इस्लामाबाद: मुंबई हमले का मास्टरमाइंड हाफिज सईद राजनीति में भाग्य चमकाने की बिसात बिछा चुका है. मुंबई आतंकी हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद ने मिल्ली मुस्लिम लीग (एमएमएल) का पहला कार्यालय यहां खोला. कुछ दिन पहले ही पाकिस्तान की सरकार ने राजनीतिक दल के तौर पर इस समूह के पंजीयन की मांग करने वाली याचिका का विरोध करते हुए कहा था कि यह समूह राजनीति में हिंसा और अतिवाद को बढ़ावा देगा. सईद ने पुष्टि की है कि एमएमएल के बैनर तले उसका संगठन जमात उद दावा (जेयूडी) वर्ष 2018 के आम चुनाव में उतरेगा. सरकार के मुताबिक एमएमएल प्रतिबंधित लश्कर ए तैयबा और जेयूडी की ही शाखा है. चुनाव आयोग ने अक्तूबर माह में राजनीतिक दल के तौर पर समूह का पंजीयन करने से इनकार कर दिया था, इस आदेश को एमएमएल ने चुनौती दी थी. सईद ने लाहौर की नेशनल एसेंबली -120 क्षेत्र में कार्यालय का उद्घाटन कल किया. सितंबर में जेयूडी का एक सदस्य यहां से उप चुनाव में खड़ा हुआ था. एमएमएल का राजनीतिक दल के तौर पर पंजीयन करने से गृह मंत्रालय के इनकार के बावजूद सईद राजनीतिक शुरुआत करने की योजना पर आगे बढ़ रहा है. गृह मंत्रालय स्पष्ट कर चुका है कि जिहादी गठबंधनों को मुख्यधारा में आने की इजाजत नहीं दी जाएगी. लाहौर में राजनीतिक कार्यालय खोलना बताता है कि सईद की राजनीति में उतरने की महत्वाकांक्षी योजना है. आतंकी गतिविधियों में भूमिका के लिए अमेरिका ने सईद पर एक करोड़ डॉलर का ईनाम घोषित किया है. पाकिस्तान की सरकार ने सईद को 24 नवंबर को नजरबंदी से रिहा कर दिया था
क्रिसमस पर सामूहिक प्रार्थना में शामिल होने जा रहे 20 लोगों की बस दुर्घटना में मौत
25 December 2017
मनीला: उत्तरी फिलीपीन में क्रिसमस के अवसर पर सामूहिक प्रार्थना सभा में शामिल होने जा रहे 20 श्रद्धालुओं की आज एक बस दुर्घटना में मौत हो गई. पुलिस ने आज इसकी जानकारी दी. आगू पुलिस ने बताया कि मनीला से 200 किलोमीटर दूर उत्तर में स्थित आगू शहर में एक ही परिवार के कई लोग प्रार्थना के लिए एक छोटी बस में सवार होकर चर्च जा रहे थे, उनकी बस की एक बड़ी बस से आमने-सामने की भिड़ंत हो गई. इस हादसे में 20 लोगों की मौत हो गई. पुलिस ने बताया कि बड़ी बस में सवार 15 यात्रियों के साथ ही छोटी बस में सवार नौ अन्य लोग भी घायल हो गये. पास के शहर के एक प्रसिद्ध चर्च के बारे में पुलिस अधिकारी वनीसा अबुबो ने एएफपी को बताया कि ‘‘वे लोग मनाओग में सामूहिक प्रार्थना सभा में भाग लेने जा रहे थे.’ इस कैथोलिक बहुल राष्ट्र में सदियों पुराना ‘अवर लेडी ऑफ मनाओग चर्च’ प्रमुख धर्मस्थल है. श्रद्धालुओं का मानना है कि यहां वर्जिन मैरी की प्रतिमा चमत्कार करती है.
मेलबर्न : कार हमले के आरोपी पर हत्या के प्रयास के 18 मामले दर्ज
23 December 2017
मेलबर्न: ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न शहर में कार हमले के आरोपी शख्स पर शनिवार को हत्या के प्रयास के 18 मामले दर्ज किए हैं. बीबीसी के अनुसार, पूर्व अफगान शरणार्थी सईद नूरी (32) को शनिवार को अदालत के समक्ष पेश किया जाएगा. सईद पर किसी के जीवन को खतरे में डालने का भी मामला दर्ज किया गया है. फ्लिंडर्स स्ट्रीट पर गुरुवार को हुई घटना के बाद एक दर्जन से ज्यादा घायल हुए लोगों का अभी भी इलाज चल रहा है. इसमें घटना में घायल तीन की हालत है. घायलों में नौ विदेशी नागरिक हैं, जो दक्षिण कोरिया, आयरलैंड, वेनेजुएला, चीन, भारत और इटली के हैं. बीबीसी ने मेलबर्न पुलिस के हवाले से बताया कि संदिग्ध से पूछताछ की गई और शुक्रवार को अस्पताल से रिहा होने के बाद उस पर आरोप तय किए गए. शहर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है.
दक्षिण एशिया में ‘अस्थिरता लाने वाली गतिविधियों ’ से रणनीतिक स्थिरता कमजोर : पाकिस्तान
22 December 2017
इस्लामाबाद: पाकिस्तान की परमाणु कमान संस्था ने भारत का अप्रत्यक्ष तौर पर जिक्र करते हुए एक ‘पड़ोसी’ द्वारा दक्षिण एशिया में अस्थिरता लाने वाली कार्रवाई को सामरिक स्थिरता के लिए खतरा बताते हुए चिंता प्रकट की. प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने नेशनल कमांड अथॉरिटी (एनसीए) की 23 वीं बैठक की अध्यक्षता की जिसमें सामरिक माहौल पर विस्तार से अवगत कराया गया. इसमें कहा गया कि एनसीए ने क्षेत्रीय सुरक्षा माहौल का जायजा लिया और पाकिस्तान के पड़ोस में अस्थिरता लाने वाली कुछ गतिविधियों को लेकर चिंता जताई गई जिससे कि दक्षिण एशिया में सामरिक स्थिरता का लक्ष्य कमजोर हुआ. इसमें कहा गया, ‘इसमें, क्षेत्र में व्यापक रूप से हथियारों का जमावड़ा, हिंद महासागर क्षेत्र का परमाणुकरण और बैलिस्टिक मिसाइल रक्षा तंत्र की गतिविधि / तैनाती की योजना शामिल है
पाकिस्तान पुलिस ने बलूचिस्तान के गवर्नर की हत्या की साजिश नाकाम की, दो लोग गिरफ्तार
21 December 2017
कराची: बलूचिस्तान के गवर्नर की हत्या की साजिश नाकाम करते हुए पाकिस्तान पुलिस ने पाकिस्तान-अफगानिस्तान सीमा से दो लोगों को गिरफ्तार किया है. क्वेटा के पुलिस उप महानिरीक्षक अब्दुल रज्जाक चीमा ने मीडिया को बताया कि दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है. वे प्रांतीय गवर्नर मोहम्मद खान अचकजई की उनके पैतृक गांव की यात्रा के दौरान हत्या की साजिश कर रहे थे चीमा ने बताया, ‘‘पंजाब निवासी हामिद बशीर और क्वेटा निवासी मुनवर अहमद ने साजिश में शामिल होने की बात कबूल की है. दोनों को अफगानिस्तान के पास गुलिस्तान क्षेत्र में छापेमारी के दौरान गिरफ्तार किया गया।’’ ये लोग गवर्नर पर आत्मघाती हमला करने की योजना बना रहे थे. अधिकारी ने कहा कि मुखबिर की सूचना पर की गयी छापेमारी के दौरान पुलिस ने परिसर से दो आत्मघाती जैकेट और बारूदी सुरंगों सहित भारी मात्रा में हथियार और विस्फोटक बरामद किया है. बलूचिस्तान के गृह मंत्री मीर सरफराज बुगती के अनुसार, जांच में पता चला है कि गवर्नर पर हमले की योजना के पीछे कारी तालिबान समूह का हाथ है यह समूह अब अफगानिस्तान से अपनी गतिविधियां चलाता है. उन्होंने कहा कि वर्ष 2015 में पंजाब के तत्कालीन गृहमंत्री शुजा खानजादा की हत्या के पीछे भी इसी समूह का हाथ था.
मिस्र के हवाईअड्डे पर आतंकी हमला, 1 की मौत, दो घायल
20 December 2017
काहिरा: मिस्र के उत्तरी सिनाई प्रांत के अरीश शहर के हवाईअड्डे पर आतंकवादी हमले में एक अधिकारी की मौत हो गई जबकि दो घायल हो गए. समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने सैन्य प्रवक्ता तमर अल राफे के हवाले से बताया, "अरीश हवाईअड्डे को निशाना बनाकर हमला किया गया, जिसमें एक अधिकारी की मौत हो गई. जबकि दो घायल हो गए. इससे एक हेलीकॉप्टर को आंशिक क्षति पहुंची है बयान के मुताबिक, यह हमला अरीश शहर में सुरक्षा स्थितियों की जांच करने पहुंचे रक्षा मंत्री के दौरे के दौरान हुआ. हालांकि, अभी तक किसी भी आतंकवादी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है.
'वानाक्राइ' साइबर हमले के पीछे उत्तर कोरिया का हाथ : व्हाइट हाउस
19 December 2017
वाशिंगटन: व्हाइट हाउस के होमलैंड सुरक्षा सलाहकार टॉम बोसर्ट ने कहा कि अमेरिका का विश्वास है कि मई में हुए साइबर हमले 'वानाक्राइ' के पीछे उत्तर कोरिया था. बॉसर्ट ने सोमवार को वॉल स्ट्रीट के जर्नल में लिखे लेख में कहा, "सावधानीपूर्ण की गई जांच के बाद अमेरिका आज सार्वजनिक रूप से कह सकता है कि मई में हुए साइबर हमले वानाक्राइ के पीछे उत्तर कोरिया का हाथ था सीएनएन ने बॉसर्ट के हवाले से बताया, "यह हमला दुनियाभर में हुआ था और इससे करोड़ों का नुकसान हुआ था, जिसके लिए उत्तर कोरिया सीधे तौर पर जिम्मेदार है." उन्होंने बताया, "अमेरिका के इस दावे के लिए उसके पास साक्ष्य भी है और ब्रिटेन एवं माइक्रोसॉफ्ट भी हमले के विश्लेषण के बाद समान निष्कर्षो पर पहुंचे हैं. सीएनएन ने जून में बताया था कि ब्रिटेन की खुफिया एजेंसी को विश्वास था कि उत्तर कोरिया सरकार से संबंधित कोई समूह इस हमले के पीछे है
म्यांमार में फिर जलाए गए रोहिंग्या के 40 गांव : रिपोर्ट
18 December 2017
नेपेडा: अमेरिका के सबसे बड़े मानवाधिकार संगठन, ह्यूमन राइट्स वॉच (एचआरडब्ल्यू) ने सोमवार को कहा कि अक्टूबर से नवंबर के बीच म्यांमार में सैन्य अभियान में रोहिंग्याओं के 40 गांव जला दिए गए हैं. सेना द्वारा 25 अगस्त से शुरू किए गए आक्रामक सैन्य अभियान के बाद मुस्लिम अल्पसंख्यक समुदाय के लगभग छह लाख 55 हजार लोगों को अपने घरों को छोड़ बांग्लादेश भागने पर मजबूर होना पड़ा था. एचआरडब्ल्यू ने उपग्रह द्वारा प्राप्त तस्वीरों के आधार पर नवीनतम घटनाओं की जांच की, जिससे पता चला कि अक्टूबर और नवंबर के बीच पूर्ण और आंशिक तौर पर 354 गाव जलाए गए. समूह ने एक बयान में कहा कि कुछ मामले उसी समय सामने आए, जब बांग्लादेश और म्यांमार की सरकारों ने हजारों निर्वासित शरणार्थियों की वापसी के लिए 23 नवंबर को एक ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए थे एचआरडब्ल्यू एशिया के निदेशक ब्रैड एडम्स ने कहा कि रोहिंग्या गांवों को निरंतर खत्म किए जाने से पता चलता है कि निर्वासित शरणार्थियों की सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने की प्रतिबद्धता केवल एक दिखावा था. एडम्स ने कहा, 'उपग्रह की तस्वीरों से पता चलता है कि रोहिंग्या के गांवों को लगातार नष्ट किया जा रहा है, जिसे म्यांमार सेना खारिज कर रही है. म्यांमार सरकार की शरणार्थियों की वापसी की प्रतिबद्धता को गंभीरता से नहीं लिया गया है.'संगठन ने म्यांमार की सेना पर सैन्य कार्रवाई के दौरान हत्या और दुष्कर्म सहित कई तरह के अत्याचारों का आरोप लगाया है.
इंडोनेशिया के जावा द्वीप पर भूकंप के तेज झटके, लोगों के बीच घबराहट का आलम
16 December 2017
जकार्ता: इंडोनेशिया के मुख्य जावा द्वीप पर 6.5 तीव्रता के भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए. भूकंप में एक व्यक्ति की मौत हो गई और राजधानी जकार्ता में लोगों के बीच घबराहट पैदा हो गई. अधिकारियों ने बताया कि अभी सुनामी के कोई संकेत नहीं मिले हैं लेकिन उन्होंने भूकंप के बाद चेतावनी जारी की है. भूकंप के झटके कल राजधानी से करीब 300 किलोमीटर तटीय क्षेत्र में महसूस किए गए. राष्ट्रीय आपदा शमन एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पूर्वो नुग्रोहो ने बताया कि पश्चिम जावा के कियामिस क्षेत्र में ध्वस्त हुए मकान के मलबे में फंसे 62 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई इस द्वीप में कम से कम पांच अन्य लोगों के घायल होने की खबर है. अधिकारी भूकंप से हुए नुकसान का आकलन कर रहे हैं. भूकंप कल स्थानीय समयानुसार आधी रात से पहले आया. अमेरिकी भूगर्भीय सर्वेक्षण के अनुसार, भूकंप का केंद्र तटीय शहर किपातुजाह से पूर्व दक्षिण पूर्व में जमीन से 91 किलोमीटर की गहराई में था तटीय शहर किलाकैप में सुनामी के डर से लोगों को बाहर निकाला गया. भूकंप से कई मकानों को भी नुकसान पहुंचा है
यूरोपीय संघ के नेताओं ने येरुशलम को इजराइल की राजधानी के तौर पर डोनाल्ड ट्रंप के फैसले को किया खारिज
15 December 2017
यूरोपीय संघ के नेताओं ने यरूशलम को इजराइल की राजधानी के रूप में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा दी गई मान्यता को खारिज करते हुए कहा कि वह अपने इस रुख पर कायम हैं कि शहर की स्थिति को वार्ता के जरिए ही सुलझाया जाना चाहिए. ट्रंप प्रशासन ने इस माह की शुरूआत में यरूशलम पर फलस्तीन के दावे को नजरअंदाज करते हुए शहर को इजराइली राजधानी के रूप में आधिकारिक रूप से मान्यता दी थी जिसके लिए उसकी काफी आलोचना हुई थी ब्रसेल्स में एक सम्मेलन में 28 देशों के समूह के नेताओं के इस मामले पर चर्चा करने के बाद ईयू अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क ने ट्वीट किया, ‘‘ईयू नेताओं ने द्विराष्ट्रीय समाधान के प्रति अपनी दृढ़ प्रतिबद्धता जताई और यरूशलम के मामले पर ईयू के रुख में कोई बदलाव नहीं आया है.’’ ईयू ने अमेरिका के निर्णय को लेकर चेताया है. इसकी विदेश नीति प्रमुख फेडेरिका मोघेरिनी ने पिछले सप्ताह चेताया था कि इससे हालात और भी खराब हो सकते हैं.
खतरनाक स्‍टंट करते हुए 62 मंजिला इमारत से गिरा स्‍टंटमैन, खुद के कैमरे में रिकॉर्ड हो गई मौत
13 December 2017
नई द‍िल्‍ली : हम अपने सोशल मीडिया एकाउंट्स पर आए दिन स्‍टंट वाले कई वीडियो देखते हैं. स्‍टंट भी कोई ऐसे-वैसे नहीं बल्‍कि इतने खतरनाक कि उन्‍हें देखकर आप दांतों तले अंगुली दबा लें. ऐसे स्‍टंट करने वालों को देखकर मन में बस यही खयाल आता है कि कोई इतना जोखि‍म कैसे उठा सकता है. लेकिन कई बार किस्‍मत और सालों की प्रैक्टिस साथ नहीं देती. ऐसा ही कुछ चीन के एक इंटरनेट स्‍टार वू यॉन्गिंग के साथ हुआ है. एक डेयरडेविल स्‍टंट करते हुए 62 मंजिला इमारत से गिरकर वू की मौत हो गई. वू यॉन्गिंग 26 साल का था. वह ऊंची-ऊंची इमारतों पर स्‍टंट करते हुए वीडियो शूट करता था, जिन्‍हें वो चीन की सोशल मीडिया ऐप्‍प वीबो पर अपलोड करता था. इस बार भी वो कुछ ऐसा ही करना चाहता था. अपने स्‍टंट के लिए उसने 62 मंजिला इमारत को चुना. स्‍टंट करते हुए उसकी पकड़ कमजोर हो गई और वो ऊपर से नीचे गिर गया. आप यह जानकर हैरान रह जाएंगे कि इस स्‍टंट के लिए वू को 7.7 लाख रुपये मिलने वाले थे. बिल्‍डिंग 45 फीट ऊंची थी और पुल-अप करने के दौरान यह हादसा हो गया. हादसे का पूरा वीडियो एक कैमरे में कैद हो गया. इस कैमरे को खुद वू ने ही स्‍टंट वाली जगह से कुछ दूरी पर लगाया हुआ था. बाद में एक सफाई कर्मचारी की नजर वू की लाश पर पड़ी जिसने उनके घरवालों को इस बारे में जानकारी दी. हालांकि वू की मौत आठ नवंबर को ही हो गई थी, लेकिन यह मामला 8 दिसंबर को प्रकाश में आया. दरअसल, वू के प्रशंसक इस बात से परेशान थे कि एक महीने से उन्‍होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक भी नया वीडियो अपलोड नहीं किया था वू यॉन्गिंग की गर्लफ्रेंड जिन जिन ने बीजिंग न्‍यूज को बताया कि इस स्‍टंट को सफलतापूर्वक करने के बाद वो उनके घरवालों से शादी की बात करने वाला था. यही नहीं इस वीडियो से उसे जो पैसे मिलते उससे वो गर्लफ्रेंड के घरवालों के लिए तोहफे भी लाने वाला था आपको बता दें कि लाइव स्‍ट्रीमिंग वीडियो साइट 'Volcano' पर वू के 300 वीडियो और 10 लाख फॉलोवर्स थे. लाइव स्‍ट्रीमिंग के लिए उन्‍हें 5.3 लाख रुपये मिलते थे. यही नहीं उनके फॉलोवर्स उन्‍हें वर्चुअल करंसी भी देते थे. उनकी गर्लफ्रेंड जिन जिन ने इस बात का भी खुलासा किया है कि जिस इमारत पर स्‍टंट करते हुए वू की मौत हुई वह 44 मंजिलों तक ही खुली रहती है. जाहिर ऐसे में वू 18 मंजिल चढ़ने के बाद ही ऊपर तक पहुंचा होगा. उधर, वू की मौत खबरे मिलने के बाद से ही उनके प्रशंस बेहद दुखी हैं और उनका सोशल मीडिया अकाउंट श्रद्धांजलियों से पटा पड़ा है.
मिस्र के राष्ट्रपति ने येरूसलम मुद्दे पर बातचीत के लिए महमूद अब्बास को आमंत्रित किया
11 December 2017
काहिरा: मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल सीसी ने फिलीस्तीन के अपने समकक्ष महमूद अब्बास को येरूसलम मुद्दे पर सोमवार को काहिरा में वार्ता के लिए आमंत्रित किया. मिस्र के राष्ट्रपति कार्यालय के प्रवक्ता बासम राडी ने जारी बयान में कहा, "यह वार्ता अमेरिका द्वारा येरूसलम को इजरायल की राजधानी के रूप में मान्यता देने से जुड़े घटनाक्रमों पर केंद्रित होगी गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा येरूसलम को इजरायल की राजधानी के रूप में मान्यता देने और इजरायल में अमेरिकी दूतावास को तेल अवीव से येरूसलम स्थानांतरित करने के लगभग सप्ताह भर बाद सीसी ने अब्बास को वार्ता के लिए आमंत्रित किया है.
लॉस एंजेलिस के जंगलों में लगी भीषण आग के बाद कैलिफोर्निया में आपातकाल का ऐलान
9 December 2017
वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने लॉस एंजेलिस के जंगलों में लगी भीषण आग में आसपास की कई पहाड़ियों के चपेट में आने के बाद शुक्रवार को कैलिफोर्निया में आपातकाल का ऐलान कर दिया. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, इस महीने के शुरुआत में जंगल में लगी आग से बनी आपात स्थितियों के मद्देनजर बचाव कार्यो में संघीय सरकार मदद करेगा इसके साथ ही लॉस एंजेलिस, रीवरसाइड, सैन डियागो और वेंतुरा काउंटी सहित प्रभावित क्षेत्रों के लिए संघीय आपात कोष भी जारी होगा. ट्रंप के इस ऐलान से एक दिन पहले कैलिफोर्निया के गवर्नर जेरी ब्राउन ने राष्ट्रपति से राज्य में आपातकाल का ऐलान करने के लिए पत्र लिखा था जंगल में लगी आग से कुछ ही दिनों में हजारों एकड़ की संपत्ति और 439 इमारतें नष्ट हो गई हैं.
पाकिस्तान में नाव पलटने से मृतकों की संख्या पहुंची 21, ज्यादातर यात्री कराची के रहने वाले
8 December 2017
पाकिस्तान के थट्टा जिले में नौका पलटने की घटना में मृतकों की संख्या बढ़कर 21 हो गई है जबकि कई लापता हैं. डॉन न्यूज ने जिला अधिकारियों के हवाले से बताया कि गुरुवार शाम को जिस समय यह घटना हुई, उस समय नौका में लगभग 70 लोग सवार थे थट्टा उपायुक्त नासिर बेग ने कहा कि अभी तक 20 लोगों को बचा लिया गया है. सेना की मदद से बचाव कार्य जारी है. नौका में सवार लोगों में अधिकतर तीर्थयात्री थे, जो सूफी संत के वार्षिक उत्सव में शामिल होने जा रहे थे पुलिस ने बताया कि अधिकतर यात्री कराची के रहने वाले थे. शुरुआती जांच के मुताबिक, अत्यधिक भीड़ की वजह से नौका संतुलन खो बैठी और पलट गई
अब चीन ने भारत पर लगाया यह सनसनीखेज आरोप और कहा- हमारी संप्रभुता का उल्लंघन हुआ
7 December 2017
बीजिंग: चीन की सेना ने भारत पर आरोप लगाया है कि एक भारतीय ड्रोन चीन के हवाई क्षेत्र में घुस गया और उसके बाद वह दुर्घटना का शिकार हो गया. समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने वेस्टर्न थियेटर कमांड के ज्वाइंट स्टाफ विभाग के कॉम्बैट ब्यूरो के उप प्रमुख झैंग शुइली के हवाले से कहा, "एक भारतीय यूएवी (अन्मैन्ड एरियल वेहिकल) ने चीन के हवाई क्षेत्र में प्रवेश किया और प्रवेश करते ही वह दुर्घटना का शिकार हो गया. चीनी सीमा सुरक्षा बलों ने ड्रोन की पहचान और उसका सत्यापन किया है झैंग के अनुसार, "भारत के इस कदम से चीन की क्षेत्रीय संप्रभुता का उल्लंघन हुआ है और हम इसका कड़ा विरोध करते हैं. हम अपने मिशन और जिम्मेदारी को पूरा करेंगे और चीन की राष्ट्रीय संप्रभुता और सुरक्षा की रक्षा करेंगे.
माल्या के प्रत्यर्पण मामले की सुनवाई के दौरान भारतीय जेलों की तुलना रूस की जेलों से
6 December 2017
लंदन: लंदन की वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में शराब कारोबारी विजय माल्या की प्रत्यर्पण सुनवाई में भारत की जेल प्रणाली की तुलना रूस के जेलों की हालत से हुई. 61 वर्षीय माल्या के बचाव दल ने भारत सरकार की ओर से क्राउन प्रोसिक्यूशन सर्विस (सीपीएस) द्वारा धोखाधड़ी के मामले में तैयार किए गए मामले के जवाब में शुरुआती दलीलों के तहत इस मुद्दे को उठाया. बचाव पक्ष ने जज एम्म आर्बुथनॉट से कहा कि भारत में जेलों में सुरक्षित हालात पर भारतीय अधिकारियों द्वारा दिए गए आश्वासनों के सही से अनुपालन की कोई प्रणाली नहीं है. माल्या के बैरिस्टर क्लेयर मोंटगोमेरी ने अदालत में कहा, सरकार (भारत की) अदालत के आदेशों की अवहेलना को दूर करने के उपायों को लेकर असमर्थ और अनिच्छुक रही है. न्यायाधीश ने पूछा कि रूस में जेलों में खराब हालात की तुलना कैसे हो सकती है जहां प्रत्यर्पण के मामले कारावासों के असुरक्षित हालात पर निर्भर करते हैं मोंटगोमरी ने कहा कि रूस के हालात भारत से बहुत बेहतर हैं, क्योंकि वे कम से कम अदालत के आदेशों के उल्लंघन की समीक्षा के लिए अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों को अनुमति देते हैं. न्यायाधीश ने कहा, यह रोचक बात है
अमेरिका : नाबालिग से यौन संबंध बनाने की कोशिश की थी, भारतीय मूल के व्यक्ति को 46 महीने की सजा
5 December 2017
वाशिंगटन: अमेरिका में एरिज़ोना की एक संघीय अदालत ने भारतीय मूल के एक कनाडाई व्यक्ति को नाबालिग लड़की से यौन संबंध बनाने के लिये अमेरिका आने के जुर्म में 46 महीने की सजा सुनाई है. कनाडा के ओंटारियो के दिलबाग सिंह ने इकबाल-ए-जुर्म कर लिया था अदालती दस्तावेजों के मुताबिक सिंह जनवरी 2017 में ऑनलाइन एक युवती से संपर्क में आया जिसके बारे में उसका मानना था कि वह 15 वर्षीय है. करीब चार महीने के बाद सिंह ने लड़की से कहा कि वह उसके साथ विभिन्न यौन क्रियाएं करना चाहता है
अमेरिका ने कहा, अफगानिस्तान मामले में महत्वपूर्ण पक्ष है भारत
4 December 2017
वाशिंगटन: राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा दक्षिण एशिया नीति की घोषणा के सौ दिन बाद अमेरिका का कहना है कि अफगानिस्तान में भारत एक महत्वपूर्ण पक्ष है और वह युद्ध से जर्जर देश के साथ आर्थिक सहयोग बढ़ाने के नयी दिल्ली के आवागमन के विकल्पों का समर्थन करता है. ट्रंप प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘भारत ने यह साबित किया है कि अफगानिस्तान में वह एक पक्ष है और वह अफगानिस्तान को बेहद संरचनात्मक तौर से सहयोग देने में दिलचस्पी रखता है.’ पहचान गुप्त रखने की शर्त पर अधिकारी ने उक्त जानकारी दी. वह 21 अगस्त को ट्रंप द्वारा घोषित दक्षिण एशिया नीति के सौ दिन पूरे होने पर भारत की भूमिका की समीक्षा कर रहे थे अधिकारी ने कहा, ‘जैसा कि आप जानते हैं, राष्ट्रपति ट्रंप ने 21 अगस्त को अपने भाषण में भारत को अफगानिस्तान और उनके आर्थिक विकास में बड़ा पक्ष बताया था. मुझे लगता है कि भारत इस आह्वान का उत्तर दे रहा है.’ नयी दिल्ली में सितंबर में हुए बेहद सफल व्यापार सम्मेलन का हवाला देते हुए अधिकारी ने कहा कि इससे सैकड़ों-लाखों की संख्या में नये सौदे हुए हैं. भारत ने यहां के लिए हवाई गलियारा तैयार किया है, हवाई मार्ग शुरू किया है और अब ईरान के चाबहार बंदरगाह से गेहूं की पहली खेप वहां पहुंची है. प्रशासन के इस वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘इसलिए, अमेरिका इसका समर्थन करता है. हम इसका पूर्ण समर्थन करते हैं कि भारत अपने आर्थिक संबंध बना रहा है और आवागमन के तरीके बढ़ा रहा है ताकि वह अफगानिस्तान के साथ आर्थिक रूप से ज्यादा जुड़ सके. अमेरिका ने देखा है कि भारत अफगानिस्तान के साथ अपने आर्थिक संबंधों को बढ़ा रहा है.’ ईरान के साथ ट्रंप प्रशासन की नीतियों के मद्देनजर चाबहार बंदरगाह पर सवाल करने पर अधिकारी ने कहा कि अमेरिका नहीं चाहता है कि आर्थिक गतिविधियों से इस्लामिक रेवोल्यूशनरी गार्ड कोर ऑफ ईरान को लाभ हो
दक्षिण कोरिया का दावा, अमेरिका अब उत्तर कोरिया की इस नई मिसालइ की रेंज में
1 December 2017
दक्षिण कोरिया ने कहा है कि उत्तर कोरिया ने इस हफ्ते जिस ताकतवर मिसाइल का परीक्षण किया है वह संभावित रूप से 13 हजार किलोमीटर तक के लक्ष्य पर हमला करने में सक्षम है और अमेरिका उसकी जद में आ सकता है. दक्षिण कोरियाई रक्षा मंत्रालय ने आज कहा कि अंतरद्वीपीय बैलेस्टिक मिसाइल लक्ष्य पर सही तरीके से हमला कर सकती है, इस बात को निर्धारित करने के लिए इसकी समीक्षा किये जाने की जरूरत है. कई सवाल बाकी हैं, लेकिन सरकार की व्यापक सहमति और बाहरी विश्लेषकों का मानना है कि ताकतवर ह्वासोंग-15 आईसीबीएम आगे के कदम का महत्वपूर्ण प्रतिनिधित्व करता है, जिसने उत्तर कोरिया को परमाणु आधारित लंबी दूरी की मिसाइलों के एक व्यवहार्य शस्त्रागार के लक्ष्य के करीब ला दिया है
यमन में हूती विद्रोहियों और पूर्व राष्ट्रपति अली अब्दुल्लाह सालेह के समर्थकों में झड़प, 14 की मौत
30 November 2017
यमन की राजधानी सना में शिया हूती विद्रोहियों और पूर्व राष्ट्रपति अली अब्दुल्लाह सालेह के समर्थकों के बीच झड़पों में आज 14 लोग मारे गए. चिकित्सकों और अधिकारियों ने बताया कि सना में यमन की सबसे बड़ी सेंट्रल सालेह मस्जिद के आसपास झड़पें हुई. हूती विद्रोहियों ने पैगंबर मोहम्मद के जन्मदिन के कल होने वाले जश्न के मद्देनजर मस्जिद का घेराव करने की कोशिश की, इसी के चलते झड़पें हुई. सालेह के जनरल पीपुल्स कांग्रेस के एक अधिकारी ने बताया कि हूती विद्रोहियों ने गुरूवार को मस्जिद पर कब्जा करने की कोशिश की जीपीसी अधिकारी ने बताया कि मस्जिद के सुरक्षाकर्मी सालेह के समर्थक हैं और उन्होंने मस्जिद पर कब्जे की कोशिश को रोका जिससे दोनों खेमों के बीच गोलीबारी शुरू हो गई. यह गोलीबारी आसपास के प्रांतों में फैल गई. अधिकारियों ने बताया कि सालेह के चार समर्थकों की मौके पर ही मौत हो गई और पांचवें की बाद में अस्पताल में मौत हो गई. राजधानी में दो अस्पतालों के अधिकारियों के अनुसार, इस गोलीबारी में नौ हूती विद्रोहियों की भी मौत हो गई.
रोहिंग्या मुसलमानों का दर्द नहीं समझने पर आंग सान सू ची से ऑक्सफोर्ड सम्मान वापस लिया गया
29 November 2017
लंदन: म्यांमार की स्टेट काउंसलर आंग सान सू ची से रोहिंग्या मुसलमानों पर अत्याचार के बाद उनके द्वारा उठाए गए कदम की वजह से ऑक्सफोर्ड सम्मान अधिकारिक रूप से वापस ले लिया गया है. ऑक्सफोर्ड सिटी कौंसिल ने सर्वसम्मति से वर्ष 1997 में सू की को दिए गए इस सम्मान को स्थायी रूप से हटाने के लिए वोट किया था. कौंसिल ने कहा था कि 'जो हिंसा को लेकर अपनी आंखें मूंद लेते हैं, उन्हें यह पुरस्कार नहीं दिया जा सकता गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार, ऑक्सफोर्ड काउंसिलर्स ने इससे पहले पुरस्कार को वापस लेने के लिए क्रॉस-पार्टी मोशन को समर्थन दिया था और सोमवार शाम इस संबंध में आधिकारिक निर्णय लिया गया. यह कदम ऐसे समय उठाया गया है, जब म्यांमार के शक्तिशाली सैन्य प्रमुख ने दौरे पर आए पोप फ्रांसिस से कहा कि म्यांमार में 'कोई धार्मिक भेदभाव' नहीं हुआ है सम्मान वापस लेने के पक्ष में वोट डालने वाली काउंसिलर मार्क क्लार्कसन ने कहा, 'जब 1997 में आंग सान सू ची को 'फ्रीडम ऑफ द सिटी' सम्मान दिया गया था तो वह उस समय ऑक्सफोर्ड के सहिष्णुता और अंतरराष्ट्रीयता को परिलक्षित करती थी.' उन्होंने कहा, 'म्यांमार में सैन्य शासन को लेकर उसके विरोध में हमने उनका साथ दिया था. आज हम उनसे रोहिंग्या समुदाय के उत्पीड़न के बाद उनकी प्रतिक्रिया के विरोधस्वरूप यह पुरस्कार वापस ले रहे हैं.' उन्होंने कहा कि जो हिंसा को लेकर अपनी आंखें मूंद लेते हैं, उनसे सिटी का प्रतिष्ठा धूमिल होती है.
26/11 मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद ने UN में दायर की याचिका, कहा-आतंकियों की लिस्‍ट से हटाया जाए उसका नाम
28 November 2017
लाहौर : 26/11 के मंबई हमलों के मास्टरमाइंड और मोस्ट वॉन्टेड आतंकी हाफिज सईद ने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) से में याचिका दायर कर कहा है कि आतंकियों की लिस्ट से उसका नाम हटा दिया जाए. हाफिज के संगठन जमात-उद-दावा की तरफ से यूएन में इस बाबत एक याचिका लगाई है, जिसे लाहौर की एक कानूनी फर्म के माध्यम से दायर किया गया है. आपको बता दें कि जमात-उद-दावा के सरगना सईद को संयुक्त राष्ट्र ने नवंबर 2008 में हुए मुबंई हमलों के बाद यूएनएससीटी 1267 (यूएन सिक्यॉरिटी काउंसिल रेजॉलूशन) के तहत दिसंबर 2008 में आतंकी घोषित किया था. हाफिज सईद को हाल ही में नजरबंदी से रिहाई मिली है. लश्कर सरगना हाफिज सईद के सिर पर अमेरिका ने एक करोड़ डॉलर (64.50 करोड़ रुपया) का इनाम घोषित कर रखा है. हाफिज सईद जनवरी से नजरबंद था. पाकिस्तान सरकार ने शुक्रवार को उसे किसी दूसरे मामले में गिरफ्तार करने के बजाय रिहा करने का फैसला किया था. संयुक्त राष्ट्र लश्कर के मुखौटा संगठन जमात-उद-दावा को पहले ही प्रतिबंधित कर चुका है. सूत्रों ने बताया कि फ्रांस ने हाफिज सईद को आजाद करने के पाकिस्तान के कदम पर नाखुशी जताई है फ्रांसीसी अधिकारियों ने भारत के साथ मिलकर आतंकवाद से मुकाबला करने के प्रयास को जारी रखने के लिए सहयोग बढ़ाने की बात कही है. बता दें कि सईद ने पाकिस्तान में नजरबंदी से रिहा होते ही संयुक्त राष्ट्र में यह याचिका दायर की है
सीरिया में रूसी हवाई हमले में 21 बच्चों सहित 53 लोगों की मौत
27 November 2017
बेरूत: पूर्वी सीरिया में इस्लामिक स्टेट समूह के कब्जे वाले एक गांव की आवासीय इमारतों पर रूस के हवाई हमलों में सोमवार सुबह 21 बच्चों सहित 53 लोगों की मौत हो गई. ब्रिटेन स्थित सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने बताया कि फरात नदी के पूर्वी तट पर दीर एजोर प्रांत के अल-शफह गांव में हवाई हमले हुए. सीरियाई सूत्रों के नेटवर्क पर भरोसा करते हुए ऑब्जर्वेटरी ने कहा कि इससे पता चलता है कि हमले किसके विमानों से किए गए, कहां किए गए और कैसे गोलाबारूद का उपयोग किया गया. निगरानी समूह ने शुरुआत में मरने वालों की संख्या 34 बताई थी लेकिन बाद में और शव भी मिले. सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स के प्रमुख रामी अब्देल रहमान ने न्यूज एजेंसी को बताया कि दिन भर चले बचाव कार्य में मलबा हटाए जाने के बाद मृतक संख्या में बढ़ोतरी हुई. उन्होंने बताया कि हवाई हमले में कम से कम 18 लोग घायल हुए हैं. रूस सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद का करीबी सहयोगी है. सितंबर 2015 में रूस ने असद सरकार के समर्थन में सीरिया में सैन्य हस्तक्षेप शुरू किया जिसके दमिश्क को विद्रोहियों के कब्जे वाले भूभाग को पुन: अपने नियंत्रण में लेने में मदद मिली.
पाकिस्तान में बम विस्फोट से चार लोगों की मौत, 13 घायल
25 November 2017
इस्लामाबाद: पाकिस्तान के दक्षिण पश्चिमी शहर क्वेटा में शनिवार को एक बम विस्फोट में चार लोगों की मौत हो गई. विस्फोट में 13 अन्य घायल भी हुए. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, विस्फोट शहर के एक बस स्टेशन के समीप हुआ. घायलों में महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं. रिपोर्ट के अनुसार, विस्फोट में पुलिस के वाहनों को निशाना बनाया गया था. स्थानीय पुलिस और बचावकर्मी घटनास्थल पर पहुंच गए हैं बता दें कि पिछले महीने पाकिस्तान के अशांत दक्षिण-पश्चिम प्रांत बलूचिस्तान में दो ग्रेनेड विस्फोट में कम से कम 38 लोग घायल हो गए थे. पुलिस ने बताया कि यह विस्फोट मस्तुंग और ग्वादर जिलों में कुछ मिनटों के अंतराल पर हुआ था. वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, मस्तुंग शहर में सुल्तान शहीद इलाके में एक भीड़ पर एक मोटरसाइकिल पर हेलमेट पहने सवारों ने एक हथगोला फेंक दिया था
नासा ड्रोन रेस में मानव पायलट ने मशीनी ड्रोन को पछाड़ा, बनाया ऐसा रिकॉर्ड
24 November 2017
वाशिंगटन: आर्टिफिशिल इंटेलीजेंस (एआई) के खिलाफ विश्व स्तरीय पायलट के बीच हुई ड्रोन रेस में मानव पायलट ने एआई को पछाड़ दिया, लेकिन एआई ने ड्रोन को आसानी व स्थायी रूप से उड़ाया. नासा के वैज्ञानिकों ने एक पेशेवर मानव पायलट के खिलाफ एआई द्वारा नियंत्रित ड्रोन का 12 अक्टूबर को अपनी कार्य की जांच के लिए परीक्षण किया इसके परिणाम इस सप्ताह घोषित किए गए, जिसमें कहा गया है कि स्वचालित ड्रोन की 13.9 के औसत की तुलना में विश्व स्तरीय ड्रोन पॉयलट केन लो का औसत 11.1 सेकेंड का रहा. कैलिफोनिया के पसडो में नासा के जेट प्रोपल्सन लैबरोटरी के परियोजना के मैनेजर रॉब रेड ने कहा कि मानव की तुलना में एआई ने ड्रोन को ज्यादा अच्छी तरह उड़ाया, लेकिन मानव पायलट ने बहुत आक्रामक तरीके से ड्रोन को उड़ाया.
पनामा मामला: भ्रष्टाचार संबंधित मामलों में नवाज शरीफ के खिलाफ आज से सुनवाई शुरू
22 November 2017
इस्लामाबाद: पनामा दस्तावेजों में नाम आने के बाद पद के अयोग्य ठहराये गये पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनके परिवार के सदस्य आज यहां एक भ्रष्टाचार-रोधी अदालत में पेश हुए. उनके खिलाफ आज से भ्रष्टाचार से संबंधित मामलों में सुनवाई शुरू हो गई है. शरीफ यहां अपनी बेटी मरियम नवाज और दामाद सेवानिवृत्त कैप्टन मुहम्मद सफदर के साथ अदालत पहुंचे. इसके चलते भारी सुरक्षा इंतजाम किए गए थे, ताकि किसी भी अप्रिय घटना से बचा जा सके. अदालत के बाहर देश की सत्ताधारी पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के कई वरिष्ठ नेताओं ने शरीफ और उनके परिजनों का स्वागत किया. न्यायाधीश मुहम्मद बशीर इस मामले की सुनवाई कर रहे हैं. पिछले हफ्ते अदालत ने 67 साल के शरीफ की सुनवाई के दौरान 27 नवंबर तक खुद अदालत में पेश होने से छूट की अर्जी स्वीकार कर ली थी. लेकिन योजना में बदलाव के चलते शरीफ आज स्वयं अदालत में पेश हुए. इस्लामाबाद की जवाबदेही अदालत में राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) ने शरीफ और उनके परिवार के खिलाफ तीन मामले दर्ज किए हैं. अदालत ने आठ नवंबर को शरीफ की इन तीनों मामलों को एक में मिलाने की याचिका को रद्द कर दिया था.
ICJ में भारत के दलवीर भंडारी चुने गए, कांटे की टक्कर में ब्रिटेन बाहर, कहा- करीबी दोस्त भारत की जीत से खुश हैं
21 November 2017
संयुक्त राष्ट्र: अंतरराष्ट्रीय अदालत में भारत की ओर से नामित दलवीर भंडारी के निर्वाचन पर ब्रिटेन का कहना है कि वह करीबी दोस्त भारत की जीत से खुश है. भंडारी की जीत ब्रिटेन द्वारा चुनाव से अपना प्रत्याशी वापस लिये जाने के कारण संभव हुई है. संयुक्त राष्ट्र महासभा में भंडारी को 193 में से 183 वोट मिले जबकि सुरक्षा परिषद् में सभी 15 मत भारत के पक्ष में गये. इस चुनाव के लिए न्यूयॉर्क स्थित संगठन के मुख्यालय में अलग से मतदान करवाया गया था. इस दौर के मतदान से पहले ब्रिटेन द्वारा बड़े ही आश्चर्यजनक तरीके से अपना प्रत्याशी वापस लिये जाने के कारण हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय अदालत के लिए भंडारी का पुन:निर्वाचन संभव हो सका है. आईसीजे में अपने पुन:निर्वाचन के लिए भंडारी और ब्रिटेन के क्रिस्टोफर ग्रीनवुड के बीच कांटे की टक्कर थी. ऐसा माना जा रहा था कि सुरक्षा परिषद् में स्थाई सदस्य अमेरिका, रूस, फ्रांस और चीन ग्रीनवुड के पक्ष में हैं. गौरतलब है कि ब्रिटेन सुरक्षा परिषद् का पांचवा स्थाई सदस्य है.
... और हुआ यह आश्चर्यजनक घटनाक्रम
आश्चर्यजनक घटनाक्रम में संयुक्त राष्ट्र में ब्रिटेन के स्थाई प्रतिनिधि मैथ्यू रिक्रोफ्ट ने दोपहर तीन बजे होने वाले 12वें चरण के मतदान से पहले संयुक्त राष्ट्र महासभा और सुरक्षा परिषद् दोनों सदनों के अध्यक्षों को संबोधित करते हुए एक समान पत्र लिखा. दोनों के अध्यक्षों के सामने पढ़े गये पत्र में रिक्रोफ्ट ने कहा कि उनके प्रत्याशी जज क्रिस्टोफर ग्रीनवुड ने 15 सदस्यीय आईसीजे से अपना नाम वापस लेने का फैसला किया है. वह और भंडारी आईसीजे में नौ वर्ष के कार्यकाल के लिए आमने-सामने थे. मतदान के पहले 11 दौर में भंडारी को महासभा में करीब दोतिहाई मत मिले थे, जबकि ग्रीनवुड को सुरक्षा परिषद् में लगातार नौ वोट मिल रहे थे. इसके बाद ही दोनों पक्षों के बीच यह समझौता हुआ है.
रिक्रोफ्ट की ओर से लिखी गयी चिट्ठी
जज दलवीर भंडारी की जीत पर उन्हें बधाई देते हुए ब्रिटेन ने कहा कि वह संयुक्त राष्ट्र और वैश्विक मंचों पर भारत के साथ अपना करीबी सहयोग जारी रखेगा. रिक्रोफ्ट की ओर से लिखी गयी चिट्ठी में कहा गया है, ‘‘ब्रिटेन इस निष्कर्ष पर पहुंचा है कि अगले दौरों के चुनाव के साथ सुरक्षा परिषद् और संयुक्त राष्ट्र महासभा का कीमती समय बर्बाद करना सही नहीं है.’’ उन्होंने कहा कि ब्रिटेन भारत के जज भंडारी सहित सभी सफल प्रत्याशियों को बधाई देता है. ब्रिटेन का कहना है कि उसका निराश होना स्वभाविक है, लेकिन यह छह प्रत्याशियों के बीच का कड़ा मुकाबला था.

जिम्‍बाब्‍वे में 37 साल लंबे शासन का अंत, रॉबर्ट मुगाबे इस्तीफा देने के लिए सहमत
20 November 2017
हरारे: जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे इस्तीफा देने पर राजी हो गए हैं. राष्ट्रपति कार्यालय के एक करीबी सूत्र ने यह जानकारी दी. सेना के दबाव के बीच उनके 37 साल लंबे शासन के अंत का समय करीब आ गया है. उनकी ओर से राष्ट्र को संबोधित करने में देरी के बाद एक सूत्र ने कहा, ‘‘हां, वह इस्तीफा देने के लिए राजी हो गए हैं.’’ मुगाबे 93 साल के हैं. उनके पद से हटने की मांग को लेकर राजधानी हरारे में भारी भीड़ ने रविवार को शांतिपूर्ण रैली की थी. मुगाबे की इस सप्ताह सत्ता पर पकड़ तब खत्म हुई जब सेना ने प्रशासन पर अपना नियंत्रण कर लिया. यह उथल-पुथल उस विवाद को लेकर शुरू हुई कि दुनिया में सबसे लंबे समय तक शासन करने वाले 93 वर्षीय राष्ट्रपति का उत्तराधिकारी कौन होगा. (वर्ष 1980 में आजादी के बाद से पहली बार उत्साहित जनता बड़ी संख्या में सड़कों पर उतरी और मुगाबे की निरंकुश सत्ता का अंत करने की मांग को लेकर लोग हरारे और अन्य शहरों से गुजरे. सत्ता पर मुगाबे की पकड़ उस वक्त कमजोर हो गई, जब सेना ने राष्ट्रपति की पत्नी ग्रेस के सत्ता के दावेदार के तौर पर उभरने पर नाराजगी जताई थी. सत्तारूढ़ जेडएएनयू-पीएफ पार्टी ने उन्हें पार्टी के नेता पद से बर्खास्त कर दिया और उन्हें राष्ट्रपति पद से इस्तीफा देने के लिए कहा. मुगाबे की जगह पूर्व उप राष्ट्रपति इमर्सन मननगागवा को पार्टी अध्यक्ष बनाया गया है सैन्य प्रमुख कोस्टानटिनो चिवंगा से दो चरण की वार्ता के बाद मुगाबे का शाम के समय टेलीविजन के जरिए राष्ट्र को संबोधित करने का कार्यक्रम तय हुआ था.
अमेरिका ने चेताया, क्रिसमस या नए साल पर हो सकता है आतंकी हमला
17 November 2017
अमेरिका ने यूरोप जाने वाले यात्रियों को क्रिसमस और नववर्ष की छुट्टियों के दौरान आतंकवादी हमले के बढ़ते खतरे के बारे में चेताया है. अमेरिका लंबे समय से यूरोपीय शहर जाने वाले अपने नागरिकों को चरमपंथी हमले के बारे में चेताता रहा है और हाल के वर्षों में उसने त्योहारों के दौरान आतंकवादी हमले का खतरा बढ़ने की चेतावनी दी है. ताजा चेतावनी में कहा गया है, ‘‘पिछले साल दिसंबर में जर्मनी के बर्लिन में क्रिसमस बाजार और नववर्ष की पूर्व संध्या पर तुर्की के इस्तांबुल में एक नाइटक्लब में हमला हुआ जिसमें बड़ी संख्या में लोग मारे गए गत वर्ष बर्लिन के एक क्रिसमस बाजार में एक जिहादी ने ट्रक से हमला किया जिसमें 12 लोग मारे गए थे जबकि इस्तांबुल में नववर्ष की पूर्व संध्या पर हमले में 39 लोग मारे गए. विदेश विभाग ने चेतावनी दी है कि ब्रिटेन, फिनलैंड, फ्रांस, रूस, स्पेन और स्वीडन में हाल ही में हुए हमले दिखाते हैं कि अल-कायदा और इस्लामिक स्टेट अब भी सक्रिय हैं और हमले करने में सक्षम हैं. बयान में कहा गया है, ‘‘स्थानीय सरकार लगातार आतंकवाद रोधी अभियान चला रही है लेकिन विभाग अब भी भविष्य में आतंकवादी हमले की आशंका को लेकर चिंतित है. अमेरिकी नागरिकों को इस आशंका को लेकर हमेशा सतर्क रहना चाहिए कि आतंकवाद से सहानुभूति रखने वाले चरमपंथी हमले कर सकते हैं
आज अमेरिकी नौसैनिक उतरेंगे समुद्र में, जापान के फाइटर प्लेन दिखाएंगे ताकत
16 November 2017
जापान और अमेरिका ने उत्तर कोरिया को अपनी ताकत दिखाने के लिए आज संयुक्त नौसैन्य अभ्यास शुरू किया. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की हाल की एशिया यात्रा में उत्तर कोरिया की परमाणु महत्वाकांक्षा का मुद्दा छाया रहा. अमेरिकी नौसेना ने एक बयान में कहा कि 10 दिन चलने वाले इस अभ्यास में करीब 14,000 अमेरिकी सैनिक, विमान वाहक अमेरिकी जहाज रोनाल्ड रीगन और मिसाइल विध्वंसक शामिल होंगे और ये दक्षिण जापान में ओकिनावा के आसपास के समुद्र में तैनात होंगे. हाल के महीनों में अपने परमाणु और मिसाइल परीक्षणों से क्षेत्र में तनाव पैदा करने वाला उत्तर कोरिया आक्रमण के लिए ऐसे सैन्य अभ्यासों की निंदा करता रहा है और कई बार वह इसके जबाव में अपना सैन्य अभ्यास भी करता है. बयान में कहा गया है कि इस वार्षिक अभ्यास का मकसद हवा और समुद्री अभियान में प्रशिक्षण के जरिए जापान और अमेरिकी सेनाओं के बीच अपनी रक्षा के लिए तत्पर कार्रवाई की क्षमता को बढ़ाना है. इससे पहले अमेरिकी विमान वाहक पोतों ने पश्चिमी प्रशांत महासागर में संयुक्त अभ्यास किया. इस अभ्यास में जापानी सेना और दक्षिण कोरियाई युद्धपोतों ने भी भाग लिया
जिम्बाब्वे में राजनीतिक संकट गहराया: सरकारी चैनल पर सैनिकों का कब्जा, तख्‍तापलट की खबरों को किया खारिज
15 November 2017
हरारे: जिम्बाब्वे में बढ़ते राजनीतिक संकट के बीच राष्ट्रीय प्रसारक 'जेडबीसी' के मुख्यालय पर सैनिकों ने कब्जा कर लिया है. 'बीबीसी' ने बुधवार को बताया, राजधानी हरारे में विस्फोट की खबरें भी मिलीं हैं लेकिन इसका कारण स्पष्ट नहीं है. वहीं, इससे पहले दक्षिण अफ्रीका में देश के राजदूत ने तख्तापलट की खबरों को खारिज कर दिया था. जिम्बाब्वे की सत्तारूढ़ पार्टी ने देश के सेना प्रमुख द्वारा संभावित सैन्य हस्तक्षेप की चेतावनी देने के बाद राजद्रोह करने का आरोप लगाया था. जनरल कॉन्स्टेंटिनो चिवेंगा ने राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे द्वारा उप राष्ट्रपति को बर्खास्त करने के बाद चुनौती दी थी. वहीं, तनाव मंगलवार से बढ़ा है जब बख्तरबंद वाहन हरारे के बाहर की सड़कों पर तैनात कर दिए गए थे और इनका यहां तैनात होने का उद्देश्य भी स्पष्ट नहीं था.एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि राष्ट्रपति रोबर्ट मुगाबे के शासन की महत्वपूर्ण समर्थक रही सेना और 93 वर्षीय नेता के बीच तनाव गहरा गया है और बुधवार तड़के बोरोडाले में लंबे समय तक गोलीबारी हुई. मुगाबे की जेडएएनयू-पीएफ पार्टी ने सेना प्रमुख जनरल कांन्सटैनटिनो चिवेंगा पर मंगलवार को ‘‘राजद्रोह संबंधी आचरण’’ का आरोप लगाया. इस विवाद ने मुगाबे के लिए ऐसे समय में बड़ी परीक्षा की घड़ी पैदा कर दी है, जब पहले कह वहां हालात खराब चल रहे हैं. चिवेंगा ने मांग की है कि मुगाबे उपराष्ट्रपति एमरसन मनांगाग्वा की पिछले सप्ताह की गई बर्खास्तगी को वापस लें जेडएएनयू-पीएफ ने कहा कि चिवेंगा का रुख ‘‘स्पष्ट रूप से राष्ट्रीय शांति को बाधित करने वाला है... और यह उनकी ओर से राजद्रोह संबंधी आचरण की ओर इशारा करता है क्योंकि इसका मकसद विद्रोह को भड़काना है.’’ मनांगाग्वा को बर्खास्त किए जाने से पहले उनका मुगाबे की पत्नी ग्रेस (52) से कई बार टकराव हुआ था. ग्रेस को अगले राष्ट्रपति के लिए मनांगाग्वा का प्रतिद्वंद्वी माना जा रहा है हालात खराब होने के मद्देनजर हरारे में अमेरिकी दूतावास ने अपने नागरिकों को चेताया है कि ‘‘जारी राजनीतिक अस्थिरता’’ के कारण वे ‘‘शरण ले लें’’. चिवेंगा ने संभावित सैन्य हस्तक्षेप की चेतावनी दी थी. इसके मद्देनजर हरारे के बाहर सशस्त्र वाहनों ने निवासियों को चिंतित कर दिया है. इस संबंध में टिप्पणी के लिए सेना के प्रवक्ता से बात नहीं हो पाई.
इराक-ईरान भूंकप में मरने वालों की संख्या 430 के पार
14 November 2017
नई दिल्ली: ईरान-इराक सीमा पर आए भकूंप के बाद मंगलवार को भी राहत कार्य जारी हैं.मलबा हटाने का काम बड़े स्तर पर किया जा रहा है. अभी तक भूकंप में मरने वाले लोगों की संख्या 430 के पार पहुंच चुकी है. भूकंप का सबसे ज्यादा नुकसान उस इलाके को हुआ है जिसे 1980 में युद्ध के बाद फिर से बनाया गया था..ईरान के स्थानीय समयानुसार रात 9:48 मिनट पर आए 7.3 की तीव्रता का भूकंप आया. ईरान के संकट प्रबंधन मुख्यालय के प्रवक्ता बेहनम सईदी ने सरकारी टीवी को बताया कि भूकंप से देश में 430 लोग मारे गए हैं और 7,156 अन्य लोग घायल हुए. अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण के अनुसार भूकंप का केंद्र इराक के पूर्वी शहर हलबजा के 31 किलोमीटर बाहर और 23.2 किलोमीटर की गहराई पर था. भूकंप के कारण दुबई की गगनचुंबी इमारतें भी हिल गईं और यह भूमध्यसागरीय तट पर 1,060 किलोमीटर दूर तक महसूस किया गया. इराक के गृह मंत्री के अनुसार भूकंप से सात लोगों की मौत हुई है और 535 लोग घायल हैं. सभी देश के उत्तरी, अर्द्ध स्वायत्त कुर्द क्षेत्र के हैं. भूकंप के झटके इतने तेज थे कि प्रभावित इलाके में कई इमारत तो कुछ सेकेंड में ही गिर गए. कई इलाकों का एक दूसरे संपर्क भी टूट गया है. भूकंप की वजह से बिजली और पानी की आपूर्ति भी प्रभावित हुई है. बचाव कार्य में तेहरान के लड़ाके भी अन्य बचाव कर्मियों की मदद कर रहे हैं. मलबे की जांच के लिए श्वान दस्ते का भी इस्तेमाल किया जा रहा है भूकंप की वजह से सरपोल-ए-जहाब का अस्पताल बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया. सेना ने पीड़ितों के इलाज के लिए खुले में एक अस्पताल स्थापित किया है. कई गंभीर रूप से घायल लोगों को तेहरान सहित अन्य शहरों में भर्ती कराया गया है. खबरों के अनुसार भूकंप से सेना की एक चौकी और सीमांत शहर की इमारतें भी क्षतिग्रस्त हुई है और बड़ी संख्या में जवानों के मारे जाने की सूचना है ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनी ने सभी सरकारी और सैन्य बलों को तत्काल प्रभावितों की मदद के लिए रवाना कर दिया है
अमेरिकी मरीन को मुस्लिम रंगरूटों का शोषण करने के लिए 10 साल की सजा
11 November 2017
वाशिंगटन: अमेरिकी मरीन कोर के एक ड्रिल इंस्ट्रक्टर को एक दर्जन से ज्यादा रंगरूटों के शोषण के लिए शनिवार को 10 साल की जेल की सजा सुनाई गई है. उनमें से एक की 2016 में मौत हो गई थी. अमेरिकी मीडिया के अनुसार, गनरी सार्जेंट जोसेफ फिलिक्स को साउथ कैरोलिना अड्डे के पैरिस आइलैंड में बुनियादी प्रशिक्षण के दौरान रंगरूटों के शोषण के लिए शनिवार को दोषी करार दिया गया था. आठ सहकर्मियों की एक ज्यूरी ने फेलिक्स को रंगरूटों के शोषण का आदेश देने वाले एवं उसका हिस्सा रहे उन छह इंस्ट्रक्टर में सबसे ज्यादा दोषी पाया. उन्होंने रंगरूटों पर आतंकी होने का ताना कसा था. ज्यूरी में महिलाकर्मी भी शामिल थीं. फेलिक्स इराक युद्ध में काफी सक्रिय थे. दो रंगरूटों को आद्यौगिक संयंत्रों में इस्तेमाल किए वाले क्लॉथ ड्रायर (कपड़े सुखाने की मशीनें) में जाने को मजबूर किया गया और एक मामले में मशीन चला दी गई जब उन्होंने अपने धर्म का त्याग करने से इनकार कर दिया. वहीं राहील सिद्दीकी नाम के एक रंगरूट की तीसरे मंजिल से गिरने के कारण मौत हो गयी. अमेरिकी मरीन कोर ने उसकी मौत को आत्महत्या बताया था. अक्तूबर में सिद्दीकी के परिवार ने अमेरिकी मरीन कोर पर 10 करोड़ डॉलर का मुकदमा दायर किया था और कहा था कि सिद्दीकी को किसी अज्ञात वरिष्ठ ने दरवाजे से निकाला और बालकनी में ले गया जहां से उसकी नीचे गिरने पर मौत हो गयी. फिलिक्स का मामला सैन्य नियमों के तहत स्वत: अपील के लिए जाएगा. सैन्य नियमों के तहत उन फैसलों पर अपील की जाती है जिनमें लंबी सजा सहित अन्य शामिल होते हैं.
वियतनाम में तूफान 'डामरे' से 106 लोगों की मौत
10 November 2017
हनोई: वियतनाम में तूफान 'डामरे' से मरने वालों की संख्या बढ़कर 106 हो गई. इसके साथ ही घायलों की संख्या 197 हो गई है और 25 लोग लापता हैं. तूफान ने वियतनाम में बीते सप्ताह दस्तक दी थी समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, डामरे से 2,000 से अधिक घर नष्ट हो गए हैं और लगभग 12,000 क्षतिग्रस्त हुए हैं. इसके साथ ही 1,231 पोत और मत्स्य जहाज और नौकाएं डूब गई हैं. इसके साथ ही 43,300 मवेशी मारे गए हैं बिन्ह दिन्ह प्रांत के क्वे होन शहर में आठ पोतों के डूबने के बाद वियतनाम की सेनाएं लापता चालक दल की तलाश कर रहे हैं. बाढ़ और भूस्खलन से सड़क और रेल यातायात प्रभावित हुआ है
अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के न्यायाधीश की दौड़ में भारत के दलवीर भंडारी दोबारा शामिल
9 November 2017
हेग: भारत के रहने वाले अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के न्यायाधीश दलवीर भंडारी दोबारा विश्व अदालत के न्यायाधीश चुने जाने की दौड़ में शामिल हैं. संयुक्त राष्ट्र महासभा और सुरक्षा परिषद की ओर से गुरुवार को अलग से मतपत्र के जरिए अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के लिए पांच न्यायाधीशों का चुनाव किया जाएगा. इससे पहले नीदरलैंड के हेग शहर स्थित अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में भंडारी 2012 में चुने गए थे. अब वह पूरे नौ साल के कार्यकाल के लिए चुने जाने की दौड़ में हैं और एशिया का प्रतिनिधित्व करने वाले न्यायाधीश के तौर पर उनका मुकाबला लेबनान के नवाफ सलेम से है. पांच न्यायाधीशों के इस चुनावी दौड़ में इस साल सात न्यायाधीश शामिल हैं. पांच उम्मीदवार, जिनमें प्रत्येक को महासभा और परिषद दोनों में बहुमत मिलेगा. वे फरवरी में अपना पदभार ग्रहण करेंगे. इस मौके पर स्थायी सदस्य अपने विशेषाधिकार का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं. सभी सातों उम्मीदवारों के देशों की सरकारें अपने-अपने देश के उम्मीदवारों के लिए अभियान में जुटी हैं. संयुक्त राष्ट्र में भारतीय मिशन की ओर से पिछले महीने उनके स्वागत में एक कार्यक्रम रखा गया था. जिसमें चुनाव में मतदान करने वाले प्रतिनिधिमंडलों से मुलाकात की गई. भंडारी चीन और जापान के न्यायाधीशों समेत मध्य पूर्व से लेकर सुदूर पूर्व तक एशिया के न्यायाधीशों का प्रतिनिधित्व करते हैं. उनको आस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, कोलंबिया और इजरायल से भी उम्मीदवारी मिली थी. सलेम को सिर्फ लेबनान और फ्रांस की ओर से नामित किया गया था. इस साल भंडारी के साथ-साथ न्यायालय के अध्यक्ष फ्रांस के रोनी अब्राहम, उपाध्यक्ष सोमालिया के अब्दुलकावी अहमद यूसुफ और ब्राजील के एंटोनियो अगस्टो कैनकाडो ट्रिनडेड और ब्रिटेन के क्रिस्टोफी ग्रीनवुड, जिनका कार्यकाल इस वर्ष समाप्त हो रहा है, भी दौड़ में शामिल हैं. बता दें कि भंडारी राजस्थान के निवासी हैं और सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश के अलावा बंबई उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश भी रहे हैं
मसूद अजहर के चलते बिगड़ रहे हैं भारत-चीन के संबंध: अमेरिकी विशेषज्ञ
7 November 2017
वाशिंगटन: पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र की अंतरराष्ट्रीय आतंकियों की सूची में शामिल कराने की कोशिशों पर चीन हर बार कोई ना कोई रोक लगता रहा है। पर अब अमेरिकी विशेषज्ञों का कहना है कि चीन की इन कोशिशों से दोनों देशों के संबंधों को गंभीर नुकसान पहुंच रहा है। पिछले हफ्ते चीन ने संयुक्त राष्ट्र में अजहर को वैश्विक आतंकवादी की सूची में डालने की अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन की कोशिश को रूकावट डाली थी। इसके लिए उसने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सदस्य देशों के बीच आम राय ना होने का हवाला दिया था। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में वीटो का अधिकार रखने वाले स्थायी सदस्य चीन ने परिषद की अल-कायदा प्रतिबंध समिति के तहत अजहर को आतंकवादी घोषित करने के भारत के प्रयासों में बार-बार अड़ंगा डाला है। हेरिटेज फाउंडेशन के जेफ स्मिथ ने कहा कि मुझे लगता है कि यह चीन की तरफ से उठाया गया दुर्भाग्यपूर्ण कदम है और मैं संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के जाने पहचाने आतंकवादियों पर प्रतिबंधों को लगातार बाधित करने के लिए दिए गए तर्क पर सवाल करता हूं। स्मिथ ने कहा कि चीन अपने इस कदम को स्पष्ट तौर पर अपने सदाबहार दोस्त पाकिस्तान को लाभ पहुंचाने के तौर पर देख रहा है। संयुक्त राष्ट्र में स्थायी सदस्य अमेरिका ने कहा कि किसी व्यक्ति या संस्था को 1267 प्रतिबंध सूची में शामिल करने पर समिति की चर्चा गोपनीय है। न्यूयॉर्क में अमेरिकी मिशन के प्रवक्ता ने कहा, ‘‘बहरहाल, हम जैश-ए-मोहम्मद के संस्थापक और नेता अजहर को 1267 प्रतिबंधों की सूची में शामिल करने की कोशिशों का समर्थन करेंगे और दूसरे सदस्यों को भी इसका समर्थन करने के लिए प्रेरित करेंगे।’’ अमेरिकी थिंक टैंक सेंटर फॉर स्ट्रैटेजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज (सीएसआईएस) के रिक रॉसोव ने कहा कि चीन का हालिया कदम चीन-पाकिस्तान की मिलीभगत के भारत के विश्वास की पुष्टि करता है। रॉसोव ने कहा, ‘‘इस फैसले का समर्थन करके चीन, भारत के साथ अपने संबंधों को फिर से बनाने की ओर महत्वपूर्ण कदम उठा सकता था लेकिन उसने अलग रास्ता चुना।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इसका समय महत्वपूर्ण है, यह ऐसे समय पर उठाया गया कदम है जब अमेरिका ने आतंकवाद का समर्थन करने को लेकर पाकिस्तान के खिलाफ कड़ा रूख अपनाया हुआ है। चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे की तरह यह फैसला इस अस्थिरता के दौर में चीन की ओर से पाकिस्तान के लिए महत्वपूर्ण है। गौरतलब है कि गत वर्ष मार्च में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के 15 सदस्यीय देशों में से केवल चीन ही इकलौता देश था जिसने भारत की अर्जी को बाधित किया। अन्य 14 देशों ने अजहर पर प्रतिबंध लगाने के भारत के प्रयासों का समर्थन किया। इन प्रतिबंधों में संपत्ति जब्त करना और यात्रा प्रतिबंध लगाना शामिल हैं। अजहर पर जनवरी 2016 में पठानकोट वायुसेना स्टेशन पर हमले समेत भारत में कई आतंकवादी हमले करने का आरोप है। उन्होंने कहा, ‘‘चीन के कदम पहले से ही तनावपूर्ण चीन-भारत संबंधों को गंभीर नुकसान भी पहुंचा रहे हैं।
अमेरिका के टेक्सास के चर्च में हुई गोलीबारी, कम से कम 26 लोग मारे गए : मीडिया रिपोर्ट
6 November 2017
वाशिंगटन: अमेरिका के टेक्सास प्रांत में एक बैपटिस्ट चर्च में रविवार को गोलीबारी की घटना हुई. इस गोलीबारी में कम से कम 26 लोगों के मारे जाने की खबर है. इसके अलावा हमले में कई लोग घायल हुए हैं. हमलावर ने चर्च में प्रार्थना के लिए आए लोगों को निशाना बनाया. अमेरिकी मीडिया में आई खबरों से यह जानकारी मिली है. हमलावर के मारे जाने की खबर है. ग्वाडालूप काउंटी के शेरिफ के दफ्तर के प्रवक्ता के हवाले से सीएनएन ने खबर दी है कि जल्द ही बंदूकधारी हमलावर मारा गया. हालांकि यह अस्पष्ट है कि शूटर पुलिस की गोली से मरा या उसने खुद को गोली मारी. खबरों में बताया गया कि गोलीबारी सैन एंटोनियो के दक्षिण पूर्व में सुदरलैंड स्प्रिंग्स में फर्स्ट बैपटिस्ट चर्च में हुई बताया गया है कि शूटर दोपहर से थोड़ी देर पहले चर्च में घुसा और उसने गोलीबारी शुरू कर दी. इस घटना के वक्त चर्च में करीब 50 लोग मौजूद थे. डलास मॉर्निंग न्यूज वेबसाइट की खबर के अनुसार घायलों में दो साल का एक बच्चा भी शामिल है. विल्सन काउंटी के कमिश्नर अल्बर्ट गेम्ज़ जूनियर ने एएफपी को बताया कि कई मौतें हुईं और कई लोग घायल हुए. हालांकि वे आधिकारिक तौर पर संख्या नहीं बता सके. कुछ अधिकारियों ने मीडिया रिपोर्टों में बताया कि 27 लोगों की मौत हुई और 20 से अधिक लोग घायल हो गए
नेपाल : मादक पदार्थ की तस्करी को लेकर भारतीय नागरिक गिरफ्तार
4 November 2017
काठमांडो: नेपाल में मादक पदार्थों की कथित रूप से तस्करी करने को लेकर 25 वर्षीय एक भारतीय नागरिक को गिरफ्तार किया गया है. नेपाल पुलिस ने पप्पू साह को गिरफ्तार किया उसके बारे में बृहस्पतिवार को गिरफ्तार किये गये एक अन्य तस्कर से सूचना मिली थी. पप्पू बिहार के अररिया जिले का रहने वाला है. पप्पू भारत से मादक पदार्थ अवैध रुप से लाता था और नेपाल में काठमांडो समेत विभिन्न स्थानों पर पहुंचाता था. एक अन्य घटना में नार्वे के एक नागरिक को त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से गिरफ्तार किया गया था. वह दोहा जाने के लिए एक विमान में सवार होने वाला था. पुलिस ने उसके बैग से दो किलोग्राम गांजा जब्त किया
नवाज शरीफ को अयोग्य घोषित करना न्याय की हत्या है : बेटी मरियम नवाज
3 November 2017
इस्लामाबाद: नवाज शरीफ को पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने जल्दबाजी में अयोग्य ठहरा दिया. यह बात पद से हटाये गये प्रधानमंत्री की बेटी और पीएमएल-एन नेता मरियम नवाज ने कही और फैसले को न्याय की हत्या करार दिया. भ्रष्टाचार निरोधक अदालत ने भ्रष्टाचार के तीन मामलों में शरीफ को दोषारोपित किया है जो विदेश एवं अन्य बाहरी कंपनियों में उनके निवेश से जुड़ा हुआ है. सुप्रीम कोर्ट ने पनामा पेपर्स कांड में 28 जुलाई को 67 वर्षीय प्रधानमंत्री को अयोग्य ठहरा दिया था जिसके बाद मामले दर्ज किए गए. मरियम ने जियो न्यूज से कहा कि उनके पिता को अयोग्य ठहराया गया है लेकिन उनके शत्रुओं के कई प्रयासों के बावजूद वह बदनाम नहीं हुए हैं. कहा जाता है कि शरीफ ने मरियम को अपने राजनीतिक उत्तराधिकारी के तौर पर तैयार किया है.
अमेरिका को निशाना बनाने में सक्षम मिसाइल बना रहा है उत्तर कोरिया
2 November 2017
वॉशिंगटन: उत्तर कोरिया अपने मौजूदा केएन-20 अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (आईसीबीएम) के एक उन्नत संस्करण पर काम कर रहा है, जिससे संभावित रूप से अमेरिका को निशाना बनाया जा सके. एक अमेरिकी अधिकारी ने 'सीएनएन' को यह जानकारी दी. अधिकारी ने बुधवार रात कहा कि यह नई आईसीबीएम किम जोंग-उन शासन जितनी जल्दी हो सके अपनी मिसाइल और परमाणु हथियारों की क्षमता को और सुधारने के त्वरित प्रयास का एक हिस्सा है. उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया के परमाणु ईंधन, मिसाइल लॉन्चरों, मार्गदर्शक और लक्ष्यीकरण प्रणालियों में भी अतिरिक्त सुधार किए जा रहे हैं. सीएनएन' के अनुसार, उत्तर कोरिया का यह कदम डोनाल्ड ट्रंप की एशिया यात्रा से पहले सामने आया है, जहां उत्तर कोरिया का परमाणु कार्यक्रम चर्चा का एक प्रमुख विषय होगा.
अमेरिका: मैनहटन में ट्रक हमलावर का आतंक, 8 लोगों की मौत,कई घायल
1 November 2017
न्यूयॉर्क: न्यूयॉर्क के लोअर मैनहटन में एक भयानक हादसा हुआ है. दरअसल, यहां एक ट्रक ड्राइवर ने पैदल चलने वालों और साइकिल लेन में लोगों को टक्कर मार दी. इस घटना में कम से कम 8 लोगों की मौत हो गई और कई लोग घायल हैं. बताया जा रहा है कि लोअर मैनहटन में ट्रक ड्राइवर जानबूझकर साइकिल सवार लोगों को टक्कर मारने लगा. न्यूयार्क पुलिस ने हमलावर को गिरफ्तार कर लिया है.हमलावर का नाम सेफुलो साइपोव है और उसकी उम्र 29 साल की बताई जा रही है. पुलिस ने बताया कि वह शख्स अभी घटना के बारे में कोई विवरण नहीं दे रहा है.यह घटना चैम्बर्स के क्षेत्र और वेस्ट स्ट्रीट के अप मार्केट ट्रिबेका में हुई. अमेरिकी मीडिया ने बताया कि घटनास्यथल स्टुवेन्सेंट हाई स्कूल से ज्यादा दूरी पर नहीं है इस घटना के संबंध में न्यूयॉर्क के मेयर बिल दे ब्लाज़ियो ने बताया कि कि कम से कम आठ लोग मारे गए हैं और कई लोग घायल हुए हैं. उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘यह बहुत ही दर्दनाक हादसा है, जिसमें बेगुनाहों को निशाना बनाया गया है. यह एक कायरतापूर्ण आतंकी हमला है' घटनास्थल पर मौजूद लोगों का कहना है कि एक सफेद ट्रक पर सवार ने कई लोगों को टक्कर मारी.न्यूयॉर्क सिटी पुलिस डिपार्टमेंट ने टि्वटर पर सूचना दी है कि फिलहाल सभी सूचनाएं प्रारंभिक हैं. इनकी पुष्टि की कोशिश की जा रही है. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि यह कायरतापूर्ण हमला है, जिसे एक बीमार और खतरनाक व्यक्ति ने अंजाम दिया है
रूस के समर्थन वाली आपत्तिजनक सामग्री 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में 12.6 करोड़ अमेरिकियों तक पहुंची : फेसबुक
31 October 2017
सोशल मीडिया क्षेत्र की दिग्गज कंपनी फेसबुक का अनुमान है कि रूस के समर्थन वाली आपत्तिजनक सामग्री 2016 के अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव के दौरान या उसके बाद 12.6 करोड़ अमेरिकियों के पास पहुंची है. यह अमेरिका की आबादी का एक-तिहाई बैठता है. ट्विटर और गूगल जिनके पास अन्य लोकप्रिय सोशल मीडिया मंच हैं, उन्हें भी कुछ इसी तरह के अनुभव से गुजरना पड़ा. रूस के समर्थन वाले समूहों ने उनमें सेंध लगाकर अमेरिकी चुनाव को प्रभावित करने का प्रयास किया अमेरिका ने रूस पर 2016 के राष्ट्रपति चुनाव को प्रभावित करने का आरोप लगाया है. इस चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप को जीत मिली थी. इन तीनों कंपनियों के शीर्ष अधिकारी इस सप्ताह सीनेटकी न्यायिक समिति के समक्ष पेश होंगे. समझा जाता है कि ये अधिकारी सांसदों को बताएंगे कि पूर्व की तुलना में अमेरिकी सोशल मीडिया का दखल काफी बढ़ा है. वॉल स्ट्रीट जर्नल और अन्य अमेरिकी मीडिया के अनुसार फेसबुक अमेरिकी संसद को बताएगी कि 12.6 करोड़ की अमेरिकी आबादी के पास ऐसी पोस्ट, स्टोरी या अन्य सामग्री पहुंची थी, जो रूसी सूत्रों के माध्यम से डाली गई थीं.
बुशेहर प्रांत में राग सेफिड तेल क्षेत्र में आग लगी, 4 की मौत
30 October 2017
ईरान के बुशेहर प्रांत में राग सेफिड तेल क्षेत्र में आग लगने से चार लोगों की मौत हो गई. समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने न्यूज के हवाले से बताया कि रविवार को लगी आग बहुत भयावह थी. ईरान की रेड क्रेसेंट सोसाइटी ने आग बुझाने के लिए हेलीकॉप्टर भेजे. कुछ रिपोर्टों के मुताबिक, तेल क्षेत्र से निकली गैस की वजह से आग लगी. गौरतलब है कि शुक्रवार को तेहरान रिफाइनरी में आग लगने के बाद छह लोगों की मौत हो गई थी और दो घायल हो गए थे. ज्वलनशील पदार्थो के रिसाव को इस दुर्घटना का कारण बताया जा रहा है.
उत्तर कोरिया को अमेरिका की चेतावनी, संभावित परमाणु हमले पर होगी बड़ी सैन्य कार्रवाई
28 October 2017
सियोल: अमेरिका के रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस ने शनिवार को चेतावनी देते हुए कहा कि उत्तरी कोरिया द्वारा अमेरिका या उसके सहयोगियों पर किसी भी संभावित परमाणु हमले का मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा और उसे 'व्यापक सैन्य कार्रवाई' से असफल कर दिया जाएगा. एक समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, पेंटागन प्रमुख ने अपने दक्षिण कोरियाई समकक्ष सोंग युंग-मू के साथ वार्ता के बाद बताया कि उत्तरी कोरिया ने 'अनावश्यक' परमाणु और मिसाइल कार्यक्रमों के साथ क्षेत्र में खतरा की स्थिति बढ़ा दी है. रक्षा मंत्री ने अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच 49वीं वार्षिक सुरक्षा सलाहकार बैठक (एससीएम) के समापन के बाद यह टिप्पणी की. उन्होंने कहा, "अमेरिका या उसके सहयोगियों पर किसी भी हमले को असफल कर दिया जाएगा." उन्होंने कहा, "किसी भी परमाणु हथियार के प्रयोग का जवाब व्यापक सैन्य कार्रवाई से दिया जाएगा वहीं, शुक्रवार को दक्षिण कोरिया पहुंचे मैटिस ने कहा था कि अमेरिकी सरकार उत्तर कोरिया के साथ युद्ध नहीं चाहती है, बल्कि कोरियाई प्रायद्वीप का पूरी तरह से परमाणु निरस्त्रीकरण करना चाहती है
संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट, सरीन गैस हमले के लिए राष्ट्रपति बशर अल-असद की सरकार जिम्मेदार
27 October 2017
संयुक्त राष्ट्र ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि सीरिया में विद्रोहियों के कब्जे वाले एक शहर में अप्रैल में हुए घातक सरीन गैस हमले के लिए देश के राष्ट्रपति बशर अल-असद की सरकार जिम्मेदार है. रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘पैनल इस बात को लेकर विश्वस्त है कि सीरिया की सरकार चार अप्रैल 2017 को खान शेखुन में सरीन गैस छोड़ने के लिए जिम्मेदार है.’’ सीरिया के उत्तर पश्चिम इदलिब प्रांत के इस शहर में हुए गैस हमले में 87 से ज्यादा लोग मारे गए थे इस हमले के बाद दुनियाभर में आक्रोश पैदा हो गया था और इसके बाद अमेरिका ने एक सीरियाई हवाई अड्डे पर क्रूज मिसाइल दागी थी. पिछले महीने युद्ध अपराधों की जांच करने वाले संयुक्त राष्ट्र के जांचकर्ताओं ने कहा था कि उनके पास इस बात के सबूत हैं कि इस हमले के पीछे सीरिया की वायु सेना थी.
तूफान मारिया से आई तबाही के चलते प्यूर्तो रिको से करीब 73,000 लोग फ्लोरिडा पहुंचे
26 October 2017
तूफान मारिया के कारण आई तबाही के चलते प्यूर्तो रिको से करीब 73,000 लोग अपने घर छोड़कर फ्लोरिडा चले गए हैं. करीब 34 लाख की आबादी वाले इस द्वीप में 20 सितंबर को आए मारिया तूफान ने भीषण तबाही मचाई है. अधिकतर जगह पर अब भी विद्युत आपूर्ति ठप है और दूर दराज के इलाकों में लोग अब भी सेवाओं और मदद का इंतजार कर रहे हैं. गवर्नर रिक स्कॉट के कार्यालय ने एक बयान में कहा, ‘‘तीन अक्तूबर 2017 से प्यूर्तो रिको से 73,000 लोग मियामी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे, ओरलैंडो अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे और एवरग्लेड्स पोर्ट से फ्लोरिडा पहुंचे है.’’ स्काट के प्रवक्ता ने एएफपी को बताया कि तूफान 20 सितंबर को आया लेकिन फ्लोरिडा में प्यूर्टो रिको से लोगों के आने का रिकॉर्ड तीन अक्तूबर से रखा जा रहा है. तीन अक्तूबर को ही फ्लोरिडा को आपात की स्थिति में घोषित किया गया था ताकि वह लोगों के आगमन से पड़ने वाले संभावित प्रभाव से निपट सके. इसी घोषणा के कारण फ्लोरिडा ने दो हवाईअड्डों एवं बंदरगाह पर आपदा राहत केंद्र खोले हैं.
पनामा मामला : भ्रष्टाचार निरोधक अदालत में पेश हुए पाकिस्तान के वित्त मंत्री इशहाक डार
24 October 2017
इस्लामाबाद: पाकिस्तान के वित्त मंत्री इशहाक डार पनामा पेपर्स घोटाले से संबंधित रिश्वत के मामले की सुनवाई के लिए सातवीं बार भ्रष्टाचार निरोधक अदालत में पेश हुए. राष्ट्रीय जवाबदेही अदालत ने पिछले महीने डार को आय से अधिक संपत्ति के मामले में अभ्यारोपित किया था डॉन की रिपोर्ट के अनुसार सुनवाई के दौरान राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो ने 67 वर्षीय डार के खिलाफ आज दो नए गवाह पेश किए. पनामा पेपर्स घोटाला मामले में उच्चतम न्यायालय के 28 जुलाई के फैसले के बाद ब्यूरो ने 67 वर्षीय डार के खिलाफ 8 सितंबर को एक केस दर्ज किया था. पनामा पेपर्स से संबंधित सर्वोच्च न्यायालय के फैसले में शरीफ और उनके परिवार को दोषी करार दिया गया था. शीर्ष अदालत ने शरीफ को अयोग्य करार देते हुए उनके, उनके बच्चों मरियम, हुसैन और हसन तथा दामाद मोहम्मद सफदर के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज करने का आदेश दिया था. खबर में कहा गया है कि पहले गवाह तथा एक निजी बैंक की पार्लियामेंट शाखा के प्रबंधक अब्दुल रहमान गोंडल ने अपनी गवाही दे दी है और डार के अधिवक्ता ख्जावा हारिस जिरह कर रहे हैं. लंदन स्थित एवेन्फील्ड प्रोपर्टी से संबंधित मामले में अदालत ने 19 अक्टूबर को शरीफ, उनकी बेटी तथा दामाद को भ्रष्टाचार के मामले में अभ्यारोपित किया था
रोहिंग्याओं का इस्तेमाल नफरत फैलाने के लिए किया जा सकता है, म्यांमार इनकी वापसी शर्ते तय करे : अमेरिका
23 October 2017
अमेरिका चाहता है कि म्यांमार रोहिंग्या मुसलमानों की वापसी के लिए शर्तें निर्धारित करें, क्योंकि उसका मानना है कि कुछ लोग इस 'मानवीय विपत्ति' का इस्तेमाल धार्मिक आधार पर नफरत को बढ़ावा देने और फिर हिंसा के लिये कर सकते हैं. ट्रंप प्रशासन के शीर्ष अधिकारी ने यह बात कही. गौरतलब है कि म्यांमार के रखाइन राज्य में सेना ने उग्रवादियों के खिलाफ अगस्त के आखिर में कार्रवाई शुरू की जिसके बाद हिंसा से बचने के लिए करीब 600,000 अल्पसंख्यक रोहिंग्या मुस्लिम बांग्लादेश चले गए हैं. म्यांमार जातीय समूह के रूप में रोहिंग्या मुसलमानों की पहचान स्वीकार नहीं करता. उसका कहना है कि वे देश में अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशी प्रवासी हैं. ट्रंप प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी ने प्रेट्र से कहा, 'यह बहुत बड़ी मानवीय विपत्ति एवं सुरक्षा संबंधी चिंता का विषय है. ऐसा इसलिए क्योंकि कुछ लोग इस मानवीय विपत्ति को धार्मिक आधार पर एक तरह से नफरत फैलाने के तरीके और फिर हिंसा के लिये इस्तेमाल कर सकते हैं.' अधिकारी ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर बताया, 'इसलिये, म्यांमार के लिये जरूरी है कि वह शरणार्थियों की वापसी के लिए शर्तें तय करे.' उन्होंने कहा, इसके साथ ही अंतरराष्ट्रीय समुदायों के लिये भी यह जरूरी है कि वे मानवीय विपत्ति के पीड़ितों का कष्ट कम करने तथा उनके बच्चों के लिए शिक्षा समेत सभी बुनियादी सेवाओं को सुनिश्चित करने के लिए हरसंभव प्रयास करें. इसी बीच अमेरिकी सरकार ने 25 अगस्त के बाद से हिंसाग्रस्त रखाइन राज्य को प्रत्यक्ष मदद देने एवं जीवन-रक्षक आपात सहायता के लिये कल करीब चार करोड़ अमरीकी डालर की मदद देने की घोषणा की. विदेश मंत्रालय ने कहा कि 2017 के दौरान म्यांमा से विस्थापित लोगों और इस क्षेत्र की मदद के लिये करीब 10.4 करोड़ अमेरिकी डालर की मानवीय सहायता दी गयी है.
भारत के स्थायी सदस्य बनने के लिए वीटो का इस्तेमाल ना करना महत्वपूर्ण : अमेरिका की राजदूत निक्की हेली
18 October 2017
संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत निक्की हेली ने कहा कि सुरक्षा परिषद में भारत के स्थायी सदस्य बनने के लिए सबसे महत्वपूर्ण है कि 'वीटो का इस्तेमाल ना किया जाए.' उन्होंने सुरक्षा परिषद के मौजूदा ढांचे में बदलावों के खिलाफ दो विश्व शक्तियों के रूप में रूस और चीन की पहचान की. अमेरिका भारत मैत्री परिषद द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में हेली ने कहा, ‘‘संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सुधार वीटो पर निर्भर है. सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्यों में वीटो की क्षमता है. रूस, चीन, ब्रिटेन, अमेरिका और फ्रांस तथा उनमें से कोई भी यह नहीं चाहता तो भारत को सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य बनाने के लिए महत्वपूर्ण होगा कि वीटो का इस्तेमाल ना किया जाए. उन्होंने परिषद के अध्यक्ष स्वदेश चटर्जी के एक सवाल के जवाब में कहा कि अमेरिका सुरक्षा परिषद में सुधार के लिए तैयार है और हमेशा इस पर जवाब देता है. उन्होंने ‘‘अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर अमेरिका-भारत सहयोग का प्रचार करने में कांग्रेस की भूमिका’’ पर अहम भाषण भी दिया. हेली ने कहा कि अमेरिकी कांग्रेस या सीनेट की सुरक्षा परिषद में सुधारों में ज्यादा भूमिका नहीं हो सकती. अमेरिकी राजदूत ने कहा कि अमेरिका पहले से ही तैयार है लेकिन ‘‘रूस और चीन पर’’ ध्यान केंद्रित करने की जरुरत है. सुरक्षा परिषद के ये दो स्थायी सदस्य कोई सुधार होते देखना नहीं चाहते हैं.
उत्तरी कोरिया की अमेरिका को चेतावनी, किसी भी पल शुरू हो सकता है परमाणु युद्ध
17 October 2017
उत्तर कोरिया ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र के समक्ष कहा कि वह तब तक अपने परमाणु हथियारों को नष्ट करने पर बातचीत नहीं करेगा, जब तक अमेरिका अपनी 'शत्रुतापूर्ण' नीति को नहीं पलट देता. संयुक्त राष्ट्र में उप-दूत किम इन रयॉन्ग ने महासभा की निरस्त्रीकरण समिति को बताया कि कोरियाई प्रायद्वीप में परिस्थितियां 'छूते ही भड़कने वाली हालत में पहुंच चुकी हैं, और परमाणु युद्ध किसी भी पल शुरू हो सकता है...' उन्होंने कहा, "जब तक अमेरिका की ओर से परमाणु खतरा और 'शत्रुतापूर्ण नीति' खत्म नहीं कर दी जाती, हम अपने परमाणु हथियारों तथा बैलिस्टिक रॉकेटों को किन्हीं भी हालात में चर्चा की मेज़ पर लेकर नहीं आएंगे. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप तथा उत्तरी कोरिया के नेता किम जोंग उन के बीच पिछले कुछ समय से वाकयुद्ध जारी है, जिसके दौरान व्यक्तिगत आक्षेप भी किए जाते रहे हैं, और अमेरिका को धमकियां देने की स्थिति में उत्तरी कोरिया को 'पूरी तरह तबाह' कर देने की चेतावनी भी जारी की गई. लेकिन अमेरिकी विदेशमंत्री रेक्स टिलरसन ने रविवार को कहा है कि डोनाल्ड ट्रंप युद्ध को टालना चाहते हैं, हालांकि राष्ट्रपति ने ट्विटर पर कहा है कि टिलरसन राजनयिक रास्तों पर चलकर 'समय खराब कर रहे हैं. टिलरसन ने CNN से कहा, "वह (राष्ट्रपति) युद्ध करने के इच्छुक नहीं हैं, और हमारी कोशिशें तब तक जारी रहेंगी, जब तक पहला बम नहीं गिरा दिया जाता.
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान परमाणु समझौते को प्रमाणित करने से किया इनकार
14 October 2017
वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान के शासन को 'कट्टरपंथी' बताते हुए उसकी निंदा की है और अंतर्राष्ट्रीय परमाणु समझौते को प्रमाणित करने से इनकार कर दिया है. बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रंप ने शुक्रवार को कहा कि वह इस समझौते को परामर्श के लिए कांग्रेस के पास भेज रहे हैं और अपने सहयोगियों से सलाह लेंगे कि इसमें क्या बदलाव किया जाए. उन्होंने ईरान पर आतंकवाद को प्रायोजित करने का आरोप लगाया और कहा कि वह ईरान को परमाणु हथियार के रास्ते पर नहीं चलने देंगे. अंतर्राष्ट्रीय पर्यवेक्षकों का कहना है कि ईरान 2015 में हुए परमाणु समझौते का पूरी तरह पालन कर रहा है. ट्रंप ने हालांकि कहा कि समझौता बेहद लचीला है और ईरान ने "कई बार समझौते का उल्लंघन किया." उन्होंने कहा कि ईरान ने समझौते का उल्लंघन करते हुए अंतर्राष्ट्रीय निरीक्षकों को पूर्ण निरीक्षण नहीं करने दिया. अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, "ईरान मौत, विनाश और अराजकता फैला रहा है." ट्रंप ने कहा कि ईरान परमाणु करार का सही प्रकार से पालन नहीं कर रहा, लेकिन फिर भी वह इसके तहत लाभ उठा रहा है. उन्होंने कहा कि परमाणु करार को लेकर उनकी नई रणनीति से यह समस्या दूर होगी. उन्होंने साथ ही कहा कि अमेरिका किसी भी समय इस समझौते से अलग होने का अधिकार रखता है
श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे के बड़े बेटे समेत दो सांसद गिरफ्ता
13 October 2017
श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे के बड़े बेटे समेत दो सांसदों को हंबनटोटा में भारतीय महावाणिज्य दूतावास के बाहर प्रदर्शन करने पर गिरफ्तार किया गया है. वे एक हवाईअड्डे का प्रस्तावित पट्टा भारतीय कंपनी को दिए जाने के विरोध में प्रदर्शन कर रहे थे. संयुक्त विपक्ष के सदस्यों ने हंबनटोटा के मत्ताला महिंदा राजपक्षे अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे (एमआरआईए) को श्रीलंका सरकार द्वारा भारत को सौंपे जाने वाले समझौते के खिलाफ प्रदर्शन किया. राजपक्षे के राष्ट्रपति काल के दौरान प्रमुख अवसंरचना परियोजनाओं में इस हवाईअड्डे का निर्माण शामिल था जिसके लिए चीन ने ऋण सहायता मुहैया कराई थी. पुलिस ने बताया कि प्रदर्शन में हुई हिंसा पर बयान दर्ज कराने के लिए कल रात हंबनटोटा पुलिस ने नमल राजपक्षे और छह अन्य प्रदर्शनकारियों को तलब किया था. उन पर सावर्जनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने, अवैध तरीके से सभा करने और हंबनटोटा न्यायिक क्षेत्र में प्रदर्शन न करने के अदालत के आदेश का उल्लंघन करने के आरोप लगाए गए हैं. पुलिस ने बताया कि इन सभी को हंबनटोटा मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया जहां से उन्हें 16 अक्तूबर तक के लिए तंगले रिमांड जेल भेज दिया गया.
उत्तर कोरिया के विदेशमंत्री बोले- हमारे परमाणु हथियार 'न्याय की तलवार' हैं
12 October 2017
मास्को: उत्तर कोरिया के विदेशमंत्री ने अपने देश के परमाणु हथियारों को ‘न्याय की तलवार’ करार दिया है. रूस की सरकारी समाचार एजेंसी ‘तास’ ने उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री री योंग हो को यह कहते हुए उद्धृत किया है कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का सितंबर में संयुक्त राष्ट्र में दिया गया बयान ‘युद्ध को उकसाने’ वाला था. ट्रंप ने संयुक्त राष्ट्र में अपने बयान में आगाह किया था कि अगर उनके देश और उसके सहयोगियों की रक्षा करने की आवश्यकता पड़ी तो अमेरिका उत्तर कोरिया को ‘पूरी तरह तबाह’ कर देगा. री ने ‘तास’ को बताया कि उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार प्रतिरोधक हैं, जिससे उसकी अमेरिका से रक्षा हो सके. उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया के सामरिक बलों के पास अटूट शक्ति है, जो आक्रामक अमेरिका को दंडित किए बिना नहीं छोड़ेंगे री ने कहा कि उत्तर कोरिया की सेना और उसके लोग लगातार अमेरिकियों को सबक सिखाए जाने की मांग कर रहे हैं.
ईराक के प्रधानमंत्री को उम्मीद, इस साल तक हो जाएगा आईएस का सफाया
11 October 2017
ईराक के प्रधानमंत्री हैदर अल-अबादी ने इस साल देश से आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के पूरे सफाये की उम्मीद जताई है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, अबादी ने टेलीविजन पर प्रसारित एक संवाददाता सम्मेलन में आईएस के खिलाफ इराकी सुरक्षा बलों की जीत की सराहना की. उन्होंने मिश्रित जाति वाले किरकुक प्रांत के हवीजा में चलाए गए अंतिम अभियान की खासतौर पर सराहना की. अबादी ने कहा, "इराकी बलों ने उन इलाकों (हवीजा के पास) को मुक्त करा लिया, जहां पूर्ववर्ती सरकार के दौरान कोई बल पहुंच तक नहीं पाया था. आज (इराक में) हर स्थान पर दएश (आईएस) में भय का माहौल है और जैसा कि हमने वादा किया था इस साल इराक से आतंकवादी संगठन आईएस का पूरी तरह सफाया हो जाएगा गौरतलब है एक समय ईराक में मोसुल सहित कई प्रांतों में आईएस का कब्जा हो गया था और इस आतंकी संगठन ने भीषण मारकाट मचाई थी. लेकिन अब धीरे-धीरे सरकारी सेना ने नियंत्रण लेना शुरू कर दिया है.
अमेरिकी हिप-हॉप गायिका मधु वल्ली ने जीता 'मिस इंडिया वर्ल्डवाइड' का खिताब
10 October 2017
नई दिल्ली: उभरती हिप-हॉप कलाकार तथा वर्जीनिया की जार्ज मैसन यूनिवर्सिटी में कानून की पढ़ाई कर रहीं भारतीय मूल की 20-वर्षीय मधु वल्ली ने 'मिस इंडिया वर्ल्डवाइड' 2017 का खिताब जीत लिया है रविवार को न्यूजर्सी में हुई इस सौंदर्य प्रतियोगिता में फ्रांस की स्टेफनी मैडवने दूसरे नंबर पर रहीं. प्रतियोगिता के 26वें संस्करण में 18 देशों की सुंदरियों ने हिस्सा लिया, जिसमें गुयाना की संगीता बहादुर तीसरे स्थान पर रहीं. खिताब जीतने के बाद मधु ने कहा, "मैं बॉलीवुड और हॉलीवुड के बीच सबसे बड़ा पुल बनना चाहती हूं..." उन्होंने कहा, "मैं अपने दोनों देशों (भारत और अमेरिका) से प्यार करती हूं और मैं हमेशा दोनों का नेतृत्व करने का तरीका खोजना चाहती थी.. गौरतलब है कि मधु वल्ली की संगीत एल्बम एक दिन पहले ही जारी हुई है. उन्होंने कहा कि वह एक रिकॉर्डिंग आर्टिस्ट बनना चाहती हैं, और संगीत हमेशा से उनकी चाहत है, क्योंकि उन्होंने आठ साल की उम्र से ही गायन का प्रशिक्षण लेना शुरू कर दिया था.
खिलाड़ियों को राष्ट्रगान का अपमान करते देख स्टेडियम से बाहर चले गए उपराष्ट्रपति पेंस
9 October 2017
वाशिंगटन: अमेरिका के उपराष्ट्रपति माइक पेंस इंडियानापोलिस कोल्ट्स टीम का खेल देखने से पहले ही स्टेडियम से बाहर चले गए जब विरोध स्वरूप कुछ खिलाड़ी राष्ट्रगान के समय घुटनों के बल बैठ गए. इससे पहले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि लीग मालिकों को उन खिलाड़ियों को बाहर कर देना चाहिए जो खेल से पहले राष्ट्रगान के दौरान घुटनों के बल बैठ गए थे. उपराष्ट्रपति ने ट्वीट कर बताया कि जब राष्ट्रगान के दौरान कुछ खिलाड़ी घुटनों के बल बैठे तो यह देखकर वह बाहर चले गए. पेंस ने ट्वीटर पर लिखा, ' मैं आज कोल्ट्स के गेम को बीच में ही छोड़कर इसलिए बाहर निकल आया क्योंकि मैं और राष्ट्रपति ट्रंप किसी भी ऐसे कार्यक्रम की शोभा नहीं बढ़ा सकते जो हमारे सैनिकों, हमारे झंडे और हमारे राष्ट्रगान का अनादर करता हो.' खेल के दौरान 49ers नाम की टीम के 20 से ज्यादा खिलाड़ी राष्ट्रगान के दौरान घुटनों के बल बैठ गए. इंडियाना से ताल्लुक रखने की वजह से पेंस को इससे थोड़ा झटका लगा. हालांकि इंडियानापोलिस की टीम के सदस्य एकदूसरे के हाथ पकड़ कर खड़े थे. वहीं ट्रंप ने पेंस के स्टेडियम से बाहर जाने का श्रेय खुद लेते हुए ट्वीट किया, ' मैंने उपराष्ट्रपति से कहा था कि अगर कोई भी खिलाड़ी हमारे देश का अपमान करने लगे तो आप स्टेडियम से बाहर चले जाना. मुझे उन पर और उनकी पत्नी कारेन पर गर्व है.'
मध्य अमेरिका में तूफान 'नेट' से 28 लोगों की मौत, अब मेक्सिकन तट की ओर बढ़ा
7 October 2017
कानकुन (मेक्सिको): उष्णकटिबंधीय तूफान 'नेट' मेक्सिकन समुद्र तट की ओर बढ़ गया है. मध्य अमेरिका में इसके चलते हुई भारी बारिश के कारण कम से कम 28 लोगों की मौत हो गई. 'नेट' के कारण अभी 95 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं और इसके आज या कल मेक्सिको खाड़ी के उत्तरी तट पर पहुंचने पर और मजबूत होने की संभावना है. मेक्सिको की खाड़ी में काम कर रहीं तेल और गैस कंपनियां वहां से अपने कर्मचारियों को हटा रहे हैं, जहां से होकर तूफान गुजर सकता है. अमेरिका के नेशनल हरिकेन सेंटर (एनएचसी) ने मेक्सिको के युकातान प्रायद्वीप, कानकुन और अन्य कैरीबियाई रिसॉर्टों में तूफान जैसी स्थिति उत्पन्न होने की बात कही है. तूफान के चलते कोस्टारिका में छह लोगों की मौत हो गई, वहीं निकरागुआ में 11 लोगों की जान चली गई. होंडुरास में भी तीन लोगों की मौत हुई और कई लोगों के लापता होने की खबर है. कोस्टारिका में हजारों लोग आश्रय स्थलों में सो रहे हैं.
बलूचिस्तान की सूफी मस्जिद में आत्मघाती हमला : अब तक हो चुकी है 20 की मौत, 30 से ज्यादा घायल
6 October 2017
नई दिल्ली: पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में एक सूफी दरगाह पर हुए आत्मघाती हमले में मृतकों की संख्या बढ़कर 20 हो गई है, जबकि 30 से अधिक घायल हैं. डॉन न्यूज के मुताबिक, जिला प्रशासन ने शुक्रवार सुबह मृतकों की संख्या बढ़ने की पुष्टि की. डॉन न्यूज के मुताबिक, यह विस्फोट गुरुवार शाम को फतेहपुर में पीर राखेल शाह की दरगाह के प्रवेश द्वार पर उस समय हुआ, जब वहां हजारों की संख्या में लोग मौजूद थे. यह झाल माग्सी जिले का एक छोटा सा कस्बा है. पुलिस अधिकारी ने कहा कि हमलावर ने दरगाह में घुसने की कोशिश की, लेकिन सुरक्षाकर्मी ने उसे रोक दिया, जिसके बाद हमलावर ने स्वयं को विस्फोट से उड़ा दिया. बलूचिस्तान के गृहमंत्री सरफराज बुग्ती ने डॉन न्यूज को बताया, "यदि हमलावर दरगाह में घुस जाता तो मृतकों की संख्या बहुत अधिक होती." हालांकि, अभी तक किसी भी आतंकवादी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है. गौरतलब है कि गुरुवार को हुई यह घटना इस साल किसी दरगाह पर हुआ इस तरह का दूसरा घातक हमला है. इससे पहले फरवरी में एक आत्मघाती हमलावर ने सिंध के शेवान में लाल शाहबाज कलंदर की दरगाह को निशाना बनाकर हमला किया था, जिसमें 80 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी और 250 से अधिक घायल हो गए थे.
नेपाल में भूकंप के झटके, जानमाल के नुकसान की अभी तक खबर नहीं
5 October 2017
नेपाल की राजधानी काठमांडो में कम तीव्रता के भूकंप का झटका महसूस किया गया. हालांकि भूकंप से किसी प्रकार के जान माल के नुकसान की खबर नहीं है लेकिन भूकंप से लोग दहशत में आ गए और अपने अपने घरों से बाहर निकल आए. अधिकारियों ने बताया कि भूकंप की तीव्रता काफी कम थी लेकिन स्थानीय लोगों ने इसका झटकाकाफी महसूस किया.भूकंप से अभी तक किसी प्रकार के जान माल के नुकसान की खबर नहीं है. राष्ट्रीय भूकंप केंद्र से मिली सूचना के अनुसार तडके दो बज कर चार मिनट पर आए इस भूकंप की तीव्रता 3.7 मापी गयी । इसका केंद्र गंगाबू इलाके के उत्तर में था.
लास वेगास फायरिंग : हत्‍यारे स्‍टीफन पैडॉक के पास मौजूद इस उपकरण के कारण गई ज्‍यादा लोगों की जान
3 October 2017
लास वेगास: अमेरिका में एक संगीत समारोह के दौरान हुई गोलीबारी में मृतकों की संख्‍या 50 के पार पहुंच गई है. आधुनिक अमेरिकी इतिहास में यह गोलीबारी की अब तक की सबसे घातक घटना है. इस बीच, कंसर्ट में गोलीबारी करने वाले शख्‍स के बारे में अधिकारियों ने बड़ा खुलासा किया है. अधिकारियों का कहना है कि फायरिंग करने वाले व्‍यक्ति के पास ‘बम्प स्टॉक’ नाम के ऐसे दो उपकरण थे जो सेमी-ऑटोमेटिक हथियारों को पूरी तरह ऑटोमेटिक हथियार में बदल सकते थे. बंदूकधारी ने लास वेगास में एक संगीत कंसर्ट में हजारों लोगों पर अंधाधुंध गोलियां चलाई थीं. गौरतलब है कि इस तरह के उपकरणों को बीते कुछ वर्षों में अधिकारियों की जांच से गुजरना पड़ा है. कैलिफोर्निया की सीनेटर डायना फीनस्टीन लंबे समय से ऐसे उपकरणों का विरोध करती आई हैं. कई वर्ष पहले उन्होंने एसोसिएटेड प्रेस से कहा था कि उन्हें इस तरह की नई तकनीकों के ईजाद को लेकर बहुत चिंता है जो हथियारों को पूरी तरह ऑटोमेटिक बना सकती हैं. उन्होंने कहा था, ‘यह उपकरण सेमी ऑटोमेटिक राइफल को ऐसे हथियार में बदल सकता है जो प्रति मिनट 400 से 800 राउंड की दर से गोली चला सकता है.’ सेमी ऑटोमेटिक हथियार से हर बार गोली चलाने के लिए हर बार ट्रिगर दबाने की जरूरत होती है जबकि पूरी तरह ऑटोमेटिक हथियार में एक बार ट्रिगर दबाने पर तब तक गोलीबारी होती रहती है जब तक कि पूरी मैगजीन खाली न हो जाए. स्‍वाभाविक है कि इस उपकरण के कारण घटना में ज्‍यादा लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी. वर्ष 1930 के बाद से अमेरिका में पूरी तरह ऑटोमेटिक हथियारों की खरीद पर विशेष रोक है. लास वेगास में गोलीबारी करने वाले स्टीफन पैडॉक के होटल के कमरे से 23 आग्नेयास्त्र मिले हैं. घटना की जांच में शामिल दो अधिकारियों ने एपी को बताया कि पैडॉक के पास दो बम्प स्टॉक थे। वह अब यह इस बात की जांच कर रहे हैं कि इन स्टॉक का इस्तेमाल हथियारों को उन्नत बनाने में किया गया था या नहीं. पैडॉक ने संगीत समारोह में गोलीबारी कर 59 लोगों को मार डाला और सैकड़ों को घायल कर दिया था. पुलिस होटल की 32 वीं मंजिल पर स्थित हमलावर के कमरे में पहुंची तो देखा कि इस भयावह हमले को अंजाम देने के बाद उसने खुद को खत्म कर लिया था
अमेरिका के लास वेगास में फायरिंग, 20 की मौत, 100 से ज्यादा घायल, 1 संदिग्ध हमलावर मारा गया
2 October 2017
लॉस वेगास: लास वेगास में एक संगीत महोत्सव में एक बंदूकधारी द्वारा अंधाधुंध गोलियां दागने से 20 लोगों की मौत हो गई, जबकि 100 अन्य घायल हो गए. पुलिस और प्रत्यक्षदर्शियों ने यह जानकारी दी. अस्पताल की एक प्रवक्ता ने सीएनएन से इस बात की पुष्टि की है कि शहर के मैंडाले बे कैसिनो के पास गोलीबारी में घायल हुए दोनों पीड़ितों ने यूनिवर्सिटी मेडिकल कॉलेज में भर्ती होने के बाद सोमवार तड़के दम तोड़ दिया. उन्होंने बताया कि घायलों में से कई की हालत नाजुक है. लास वेगास पुलिस विभाग ने अधिक जानकारी दिए बिना एक संदिग्ध को गिरफ्तार किए जाने की घोषणा की. गोलीबारी के कारण शहर के मैक्करन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उड़ानों पर अस्थायी रूप से रोक लगा दी गई है. एक प्रत्यक्षदर्शी ने सीएनएन को बताया कि गोलीबारी की घटना के कारण वहां पूरी तरह से अफरा-तफरी मची थी. उसने कहा, मुझे लगता है कि मैं सदमे में हूं..मुझे यह अहसास करने में कुछ मिनट लगे कि क्या हो रहा है? सोशल मीडिया पर एक वीडियो में सैकड़ों लोग घटनास्थल से भागते हुए दिखाई दे रहे हैं. कुछ दृश्यों में गोली चलने की आवाज सुनाई दे रही है. घटनास्थल के लाइव फुटेज में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात नजर आ रहे हैं.
रोहिंग्या लोगों की नौका डूबने से 15 की मौत, UN चीफ ने म्यामांर से कहा- अब इस पीड़ा को खत्म करो
29 September 2017
कॉक्स बाजार: रोहिंग्या समुदाय के लोगों को ले जा रही एक नौका बांग्लादेश की समुद्री सीमा में पलट गई. इस घटना में कम से कम 15 लोग डूब गए और कई के लापता होने का अंदेशा है. उधर संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने म्यामां के नेताओं से शरणार्थियों की ‘पीड़ा’ को खत्म करने का अनुरोध किया है. रोहिंग्या शरणार्थी संकट बढ़ने के कारण संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद म्यामां पर खास सार्वजनिक बैठक करेगी. अमेरिका ने ‘जातीय अल्पसंख्यकों के सफाए’ के लिए देश की आलोचना की जबकि बीजिंग और मॉस्को ने म्यामां प्रशासन का समर्थन किया. बौद्ध बहुल म्यामां की सेना द्वारा रोहिंग्या विद्रोहियों के खिलाफ कठोर अभियान चलाने के बाद पिछले महीने पांच लाख से ज्यादा रोहिंग्या मुसलमान बांग्लादेश भाग गए थे. प्रत्यक्षदर्शियों और हादसे में बचे हुए लोगों ने बताया कि नौका कल अशांत समुद्र में तट से कुछ ही मीटर दूर थी लेकिन मूसलाधार बारिश और तेज हवाओं के चलते यह पलट गई. स्थानीय पुलिस निरीक्षक मोहम्मद काई-किसलू ने एएफपी को बताया कि कम से कम 10 बच्चों और चार महिलाओं सहित 15 शव तट पर बह कर आ गए और आशंका है कि मृतक संख्या में इजाफा हो सकता है. एक स्थानीय दुकानदार मोहम्मद सुहैल ने बताया कि वे हमारी आंखों के सामने डूबे। मिनटों के बाद ही लहरें शवों को तट पर ले आईं. वर्ष 2009 से ही सुरक्षा परिषद के 15 में से सात सदस्यों ने म्यामां पर विश्व निकाय की पहली आम बैठक बुलाने के लिए वोट किया लेकिन वे किसी संयुक्त सहमति पर नहीं पहुंच पाए. गुतारेस ने अधिकारियों से सैन्य अभियान बंद करने और हिंसा प्रभावित पश्चिमी क्षेत्र में मानवीय सहायता पहुंचने देने का आग्रह किया. संघर्ष की वजह से विस्थापित हुए लोगों को घर लौटने की इजाजत दिए जाने की मांग करते हुए गुतारेस ने कहा,‘दुनिया में स्थिति तेजी से शरणार्थी आपदा, मानवता और मानवाधिकार की समस्या में तब्दील हो रही है,’ संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कहा कि ‘सुनियोजित तरीके’ की गई हिंसा मध्य म्यामां के रखाइन राज्य में अशांति का कारण है जिससे 250,000 मुस्लिमों के विस्थापित होने का खतरा है.
रूस का रासायानिक हथियारों का आखिरी भंडार नष्ट
28 September 2017
मॉस्को: रूस ने अपनी आखिरी रासायनिक युद्ध सामग्री को देश के दक्षिण पश्चिम क्षेत्र में पूरी तरह से नष्ट कर दिया. रासायनिक निरस्त्रीकरण के स्टेट कमिशन के अध्यक्ष मिखाइल बाबिच ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को बताया कि रासायानिक हथियारों को नष्ट करने की प्रक्रिया को तय समय से पहले ही पूरा कर लिया गया है. एक समाचार एजेंसी ने पुतिन के हवाले से बताया, "हम कह सकते हैं कि यह यकीनन एक ऐतिहासिक क्षण है. मिखाइल के अनुसार, विशेषज्ञों का कहना है कि रासायनिक हथियारों का भंडार पृथ्वी पर मानव जीवन को कई बार नष्ट कर सकता है. पुतिन ने कहा, "आधुनिक विश्व को अधिक संतुलित और अधिक सुरक्षित बनाने की दिशा में यह बहुत ही बड़ा कदम है." पुतिन ने याद करते हुए कहा कि रासायनिक हथियार समझौते (सीडब्ल्यूसी) पर हस्ताक्षर करने वाला रूस पहला देश था. उन्होंने कहा कि रूस ने अपने अंतर्राष्ट्रीय दायित्वों को पूरा किया है. उन्होंने सीरिया में रासायनिक हथियारों की समस्या को सुलझाने में रूस की अहम भूमिका का उल्लेख करते हुए कहा कि वैश्विक सुरक्षा से जुड़े मुद्दों और आत्मविश्वास को मजबूत करने के कदमों पर अर्थपूर्ण संवाद के लिए रूस हमेशा तैयार है.
डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया को दी चेतावनी, सैन्य विकल्प के लिए हैं तैयार
27 September 2017
वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उनका देश उत्तर कोरिया के खिलाफ 'सैन्य विकल्प' के लिए ‘पूरी तरह तैयार’है. साथ ही उन्होंने आगाह किया कि दोनों देशों के बीच आगे और तनाव बढ़ने की स्थिति में ऐसा करना ‘विध्वंसकारी’होगा. उत्तर कोरिया ने कहा था कि वह अमेरिका के बमवर्षक विमानों को गिराकर अपनी रक्षा करने के लिए तैयार है. उसके इस बयान के एक दिन बाद अमेरिका के राष्ट्रपति की ओर से यह कड़ी प्रतिक्रिया आई है. इस सप्ताह न्यूयॉर्क में मौजूद रहे उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री रि योंग हो ने ट्रंप पर उनके देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने का आरोप लगाया. ट्रंप ने देश की यात्रा पर आए स्पेन के प्रधानमंत्री मार्यानो राहॉय के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हम दूसरे (सैन्य) विकल्प के लिए पूरी तरह तैयार हैं. इस विकल्प को हम वरीयता नहीं देते लेकिन अगर हम यह विकल्प अपनाते हैं तो यह विध्वंसकारी होगा। मैं आपको बता सकता हूं कि यह उत्तर कोरिया के लिए विध्वंसकारी होगा. अगर हमें सैन्य विकल्प अपनाना पड़ा तो हम अपनाएंगे.’’ एक सवाल का जवाब देते हुए ट्रंप ने कहा कि उत्तर कोरियाई नेता (किम जोंग उन) ‘‘बहुत बुरी तरह व्यवहार’’ कर रहे हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति ने आरोप लगाया कि वह ऐसी बातें कह रहे हैं जो पहले कभी नहीं कही गईं. उन्होंने कहा, हम उन बातों का जवाब दे रहे हैं, लेकिन यह जवाब है. यह मूल बयान नहीं है, यह जवाब है, लेकिन पिछले कुछ वर्षों से जैसा वह कह रहे हैं और अगर आप देखें कि उन्होंने पिछली सरकारों से क्या कहा तो आप पाएंगे कि उत्तर कोरिया ऐसी स्थिति है जिससे 25 साल पहले, 20, 15, 10 और पांच साल पहले ही निपटा जाना चाहिए था. तब उससे अधिक आसानी से निपटा जा सकता था.
फिलस्तीनी बंदूकधारी ने इस्राइली बस्ती में तीन सुरक्षाकर्मियों की हत्या की
26 September 2017
येरूशलम: फिलस्तीन के एक बंदूकधारी ने मंगलवार को पश्चिमी तट की बस्ती में इस्राइली सुरक्षा बलों पर फायरिंग की. इस घटना में तीन कर्मियों की मौत हो गई और एक अन्य जख्मी हो गया. बाद में इस बंदूकधारी को भी मार गिराया गया. पुलिस ने कहा, 'एक आतंकवादी फिलस्तीनी मजदूरों के साथ हर अदार के पिछले दरवाजे पर पहुंचा जहां से वे प्रवेश करते हैं. उसने बंदूक निकाली और वहां तैनात सुरक्षा बलों पर फायरिंग शुरू कर दी.' उन्होंने कहा, 'हमले में तीन इस्राइलियों की मौत हो गई, जबकि एक जख्मी हो गया. आतंकवादी को मार दिया गया है.' पुलिस ने बाद में कहा कि घायल फिलस्तीनी हमलावर की जख्मों की वजह से मौत हो गई
पाकिस्तान में हजारों मदरसों में बनाए जा रहे हैं निर्मम आतंकवादी : सीपीपी
25 September 2017
कोच्चि: कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ पाकिस्तान (सीपीपी) ने कहा है कि पाकिस्तान में हजारों मदरसों में ‘इस्लाम के सऊदी ब्रांड’ के उपदेश से सैकड़ों की संख्या में ‘निर्मम आतंकवादी’ पैदा हो रहे हैं. कोच्चि में हुए कम्युनिस्ट और वाम दलों के दो दिवसीय दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सम्मेलन में अपने एक संदेश के तहत सीपीपी की केंद्रीय समिति ने कहा कि समाज के सामाजिक ताने-बाने को तोड़ने के लिए पाकिस्तान में सेना ने दीर्घकालीन तरकीब बनाई है. कम्युनिस्ट पार्टी आफ इंडिया (मार्क्सवादी) के पोलित ब्यूरो सदस्य एमए बेबी ने सेमिनार के समापन दिवस पर आज संवाददाता सम्मेलन में सीपीपी के संदेश की एक प्रति बांटी. गौरतलब है कि सीपीपी की 1948 में कलकत्ता में स्थापना हुई थी और पाकिस्तान में इसकी नाममात्र मौजूदगी है. बेबी ने बताया कि सीपीपी के प्रतिनिधि सम्मेलन में भाग नहीं ले पाए क्योंकि उन्हें भारतीय अधिकारियों ने वीजा देने से इनकार कर दिया.
डोनाल्ड ट्रंप की टिप्पणी ने समझाया, मैंने जो रास्ता चुना वह ठीक, US को कीमत चुकानी होगी : किम जोंग उन
22 September 2017
सोल: उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग-उन ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को ‘मानसिक विक्षिप्त’ बताकर उनका मजाक उड़ाते हुए चेतावनी दी कि वह यह सुनिश्चित करेंगे कि अमेरिकी राष्ट्रपति को संयुक्त राष्ट्र में उनके देश के विनाश संबंधी बयान देने के लिए ‘भारी कीमत’ चुकानी होगी. डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने पहले संबोधन में उत्तर कोरिया को चेतावनी देने के दौरान यह कहकर दुनिया को चौंका दिया था कि अगर अमेरिका और उसके सहयोगियों पर हमला किया गया तो वाशिंगटन उसे ‘पूरी तरह तबाह’ कर देगा. प्योंगयांग द्वारा पिछले कुछ समय से चलाये जा रहे परमाणु और मिसाइल कार्यक्रमों की वजह से बढ़ते तनाव के बीच युद्ध के लिए उकसाने वाला यह बयान सामने आया है. उत्तर कोरिया ने तमाम अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों को दरकिनार कर अपना छठा और सबसे बड़ा परमाणु परीक्षण किया था और जापान के ऊपर से होकर गुजरने वाली मिसाइलों का प्रक्षेपण किया. उत्तर कोरिया की सरकारी समाचार एजेंसी केसीएनए ने किम को उद्धृत करते हुए कहा, मैं यह सुनिश्चित करूंगा कि अमेरिका में सर्वोच्च कमान का विशेषाधिकार संभाल रहे शख्स को को भारी कीमत चुकानी पड़े. किम ने ट्रंप द्वारा उनको ‘रॉकेट मैन’ कहे जाने को लेकर अमेरिकी नेता के मानसिक स्वास्थ्य पर भी सवाल उठाये और कहा, ‘संयुक्त राष्ट्र के मंच पर एक संप्रभु राष्ट्र को ‘पूरी तरह तबाह’ करने का बयान मानसिक विक्षिप्त अमेरिकी राष्ट्रपति की अनैतिक इच्छा को दर्शाता है.’ उत्तर कोरिया का कहना है कि आक्रामक अमेरिका से बचने के लिए उसे परमाणु प्रतिरोधक क्षमता की जरूरत है और इस तानाशाही निजाम ने सैन्यीकरण को अपनी राष्ट्रीय विचारधारा का केंद्रीय हिस्सा बना लिया है. बयान में इस बात पर जोर दिया गया है कि किम फिलहाल अपने रास्ते से हटने वाले नहीं हैं. किम ने कहा कि ट्रंप की टिप्पणी ने, मुझे डराने या रोकने के बजाय इस बात के लिये संतुष्ट किया कि जो रास्ता मैंने चुना है वह सही है और यही वह रास्ता है जिस पर मुझे अंत तक चलना है.
पाकिस्तानी पीएम ने दी भारत को धमकी, 'कॉल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रीन' के लिए तैयार किए परमाणु बम
21 September 2017
न्यूयॉर्क: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने एक बार फिर उकसाने वाला बयान दिया है. उन्होंने पाकिस्तान की परमाणु नीति को लेकर कहा कि भारतीय सेना के ‘कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रिन’ से निपटने के लिए उनके देश ने छोटी दूरी के परमाणु हथियार विकसित कर लिए हैं. अब्बासी ने यह भी कहा कि पाकिस्तान के परमाणु शस्त्रागार सुरक्षित हैं. कोल्ड स्टार्ट पाकिस्तान के साथ संभावित युद्ध के लिए भारत की सशस्त्र सेनाओं द्वारा विकसित किया गया सैन्य डॉक्ट्रीन है. इसके तहत भारत के सैन्य बलों को युद्ध की स्थिति में पाकिस्तान की ओर से परमाणु हमले का जवाब देने के लिए हमले करने की मंजूरी है. उन्होंने एक शीर्ष अमेरिकी थिंक टैंक काउंसिल ऑन फॉरेन रिलेशंस में एक सवाल के जवाब में कहा, हमारा सामरिक परमाणु हथियारों पर बेहद मजबूत और सुरक्षित नियंत्रण है. समय के साथ यह साबित हो चुका है कि यह प्रक्रिया बहुत सुरक्षित है. पाकिस्तान की न्यूक्लियर कमांड अथॉरिटी (एनसीए) के पास देश के परमाणु हथियारों के संबंध में कमांड, कंट्रोल और संचालनात्मक फैसले लेने की जिम्मेदारी है. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा, जहां तक सामरिक परमाणु हथियारों का संबंध है तो हमारे पास कोई भी क्षेत्रीय सामरिक परमाणु हथियार नहीं है. हमने भारत के कोल्ड स्टार्ट डॉक्ट्रिन से निपटने के लिए छोटी दूरी के परमाणु हथियार विकसित किए हैं. इनकी कमान और कंट्रोल भी उसी अथॉरिटी के पास है जिसके पास अन्य सामरिक हथियारों का नियंत्रण है. मध्यस्थ डेविड संगेर ने कहा कि पाकिस्तान दुनिया के उन देशों में जिनका परमाणु शस्त्रागार तेजी से बढ़ रहा है. संगेर ने कहा, दुनिया में कोई भी दूसरा परमाणु शस्त्रागार नहीं है, जो इतनी तेजी से बढ़ रहा हो और विश्व में उत्तर कोरिया के अलावा ऐसा कोई देश नहीं है, जिससे अमेरिका को ज्यादा चिंता हो. उसे शस्त्रागारों की सुरक्षा की चिंता है और इससे भी ज्यादा वे शस्त्रागार के कमान और कंट्रोल को लेकर चिंतित हैं. अब्बासी ने कहा कि उनकी कमान और कंट्रोल व्यवस्था अन्य देशें के समान ही सुरक्षित है. उन्होंने कहा, इस बात पर संदेह नहीं होना चाहिए कि आतंकवादी या ऐसी कोई भी आण्विक सामग्री या परमाणु हथियारों पर नियंत्रण कर सकता है. इसकी कतई आशंका नहीं है. अब्बासी ने कहा, पाकिस्तान विश्व का जिम्मेदार देश है और हमने आतंकवाद के खिलाफ बड़े युद्ध के साथ यह जिम्मेदारी दिखाई है. हम पिछले 15 वर्षों से आतंकवाद से लड़ रहे हैं. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने इस अंदेशे को खारिज करने की मांग की कि उनका देश अपने परमाणु कार्यक्रम की सुरक्षा करने में सक्षम नहीं है. उन्होंने कहा, हम परमाणु संपन्न हैं. इस पर कोई शक नहीं है. हम जानते हैं कि परमाणु कचरे से कैसे निपटा जाता है. हमने 60 के दशक में परमाणु कार्यक्रम शुरू किया था और हम परमाणु कार्यक्रम वाले एशिया के पहले देशों में से एक हैं तो अगर हमने 50 वर्षों से इसकी रक्षा की है तो मुझे लगता है कि हम अब भी कर सकते हैं
राहुल गांधी ने अमेरिका में खोला नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने का रहस्य
20 September 2017
प्रिंस्टन: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी दो हफ्ते के अमेरिका दौरे पर हैं. वह लगातार यहां मोदी सरकार पर निशाना साध रहे हैं. राहुल गांधी आज प्रिंसटन यूनिवर्सिटी में छात्रों से रू-ब-रू हुए. राहुल गांधी ने कहा कि शिक्षा और स्वास्थ्य पर बहुत ज्यादा खर्च नहीं किया जा रहा है. रोजगार भारत में सबसे बड़ी चुनौती है. उन्होंने कहा कि अगर एक देश अपने युवाओं को रोजगार नहीं दे पाता है तो वह उसे कोई विजन भी नहीं दे सकता है. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज कहा कि दुनिया में बेरोजगारी से लोग परेशान हैं और इसीलिए नरेंद्र मोदी और डोनाल्ड ट्रंप जैसे नेताओं को लोगों ने चुना, हालांकि उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि प्रधानमंत्री मोदी भारत में इस समस्या के लिए पर्याप्त मात्रा में काम नहीं कर रहे हैं. राहुल गांधी यहां दो हफ्ते की अमेरिका यात्रा पर हैं. प्रिंस्टन यूनीवर्सिटी में छात्रों के साथ बातचीत में गांधी ने स्वीकार किया कि पीएम मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार को भारत में सत्ता इसलिए मिली क्योंकि लोग कांग्रेस पार्टी से बेरोजगारी के मुद्दे पर नाराज थे. उन्होंने कहा कि रोजगार का पूर्ण मतलब राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया में लोगों को सशक्त करना और शामिल करना है. राहुल गांधी ने छात्रों से कहा, मैं सोचता हूं, पीएम मोदी के उभार का मुख्य कारण और ट्रंप के सत्ता में आने की वजह, अमेरिका और भारत में रोजगार का प्रश्न होना है. हमारी बड़ी आबादी के पास कोई नौकरी नहीं है और वह अपना भविष्य नहीं देख सकते हैं और इसलिए वह परेशान हैं, और उन्होंने इस तरह के नेताओं को समर्थन दिया है. उन्होंने कहा कि एक अन्य समस्या यह है कि बेरोजगारी को कोई समस्या मान ही नहीं रहा है. इससे पहले अमेरिका की ही बर्कले यूनिवर्सिटी में राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा था. राहुल ने कहा था कि संसद को अंधेरे में रखकर मोदी सरकार नोटबंदी लाई थी, जिससे देश को नुकसान हुआ. राहुल गांधी ने वंशवाद को लेकर भी बयान दिया. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का मानना है कि परिवारवाद के चलते पार्टी में शीर्ष पद हासिल हो जाने के लिए उन्हें कोसा जाना बंद होना चाहिए, क्योंकि सारा मुल्क इसी तरह परिवारवाद से चल रहा है. अमेरिका में बर्कले स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में विद्यार्थियों से बातचीत करते हुए राहुल गांधी ने कहा, "मुल्क का ज़्यादातर हिस्सा इसी तरह चलता है. भारत इसी तरह काम करता है.
आंग सान सू ची ने कहा- रोहिंग्या मुसलमानों पर एक्शन सही, अंतरराष्ट्रीय दबाव में नहीं आएंगे
19 September 2017
संयुक्त राष्ट्र: दुनियाभर में रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर उठ रहे सवालों के बीच संयुक्त राष्ट्र की बैठक में म्यांमार की स्टेट काउंसलर आंग सान सू ची ने कहा है कि हम अंतरराष्ट्रीय दबाव में नहीं आएंगे. उन्होंने अपने भाषण में रखाइन प्रांत में अराकान इलाक़े में रह रहे कुछ रोहिंग्या मुसलमानों पर हुई कार्रवाई को सही करार दिया. उन्होंने ये तो कहा कि किसी भी तरह से मानवाधिकार का उल्लंघन ठीक नहीं है, लेकिन कुछ रोहिंग्या मुसलमानों को आतंकवादी बताने से भी नहीं चूकीं. उन्होंने रोहिंग्या मुसलमानों एक वर्ग पर पुलिस बलों पर हमले और देश विरोधी काम करने का आरोप लगाया. खास बात ये है कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुतेरस ने बैठक से पहले कहा कि सू ची के पास हिंसा रोकने का ये आखिरी मौका है. उन्होंने जोर देकर कहा कि रोहिंग्या मुसलमानों की घर वापसी म्यांमार सरकार की जिम्मेदारी है.रोहिंग्या मुद्दे पर चौतरफा दबाव के बीच सू ची संयुक्त राष्ट्र की आम सभा में भाग लेने नहीं पहुंचीं हैं. ये स्टेट ऑफ़ द यूनियन भाषण उन्होंने नाय पीय ताव में दिया. सू ची ने कहा- कई महीनों की शांति के बाद 25 अगस्त को सुरक्षाबलों पर हथियार बंद गुट ने हमला कर दिया. सरकार ने जांच में इस आतंकी हमले के लिए रोहिंग्या और उनके समर्थकों का हाथ पाया. हम किसी भी तरह के मानवाधिकार उल्लंघन का विरोध करते हैं और सुरक्षा बलों को इन आतंकियों पर कार्रवाई के दौरान नियमों का पालन करने के निर्देश दिए गए हैं. उन्होंने कहा कि मुझे इस बात की जानकारी है कि इस वक़्त पूरी दुनिया हमारे देश पर नज़र रखे हुए है. जैसा कि मैंने पिछली बार यूएन आम सभा में कहा था कि एक ज़िम्मेदार सदस्य देश होने के नाते हम यहां रहने वाले सभी नागरिकों की सुरक्षा, शांति और विकास कार्यों को करते रहेंगे और किसी भी तरह के अंतरराष्ट्रीय दबाव में नहीं आएंगे, हालांकि जो शरणार्थी लौटना चाहते हैं वे जांच के बाद आ सकते हैं. गौरतलब है कि म्यांमार से बड़ी तादाद में खदेड़े जा रहे रोहिंग्या मुसलमान बांग्लादेश में शरण लेने पहुंचे हैं. खाने के सामान और राहत सामग्री की यहां भारी कमी है. इन हालात में बच्चे और बूढ़े सबसे ज़्यादा परेशान हैं. इन्होंने बांग्लादेश के शामलापुर और कॉक्स बाज़ार में शरण ली हैं. शरणार्थी शिविरों में ही बच्चों को औरतें जन्म दे रही हैं. बांग्लादेश में इनकी जान बची हुई है, लेकिन मुसीबतों की कमी नहीं है. कई मानवाधिकार संगठन भारत सरकार से गुहार लगा रहे हैं कि इन शरणार्थियों को देश में ही रहने दिया जाए वहीं सरकार का मानना है कि रोहिंग्या मुसलमान अवैध प्रवासी हैं और इसलिए कानून के मुताबिक उन्हें बाहर किया जाना चाहिए. गृह मंत्रालय कह चुका है कि वह रोहिंग्या मुसलमानों को भारत में शरण नहीं देगा, बल्कि उन्हें वापस लौटा देगा. इसके साथ ही भारत-म्यांमार सीमा पर चौकसी बढ़ा दी गई है. सीमा पर सरकार ने रेड अलर्ट जारी किया है.
क्या है विवाद
रोहिंग्या समुदाय 12वीं सदी के शुरुआती दशक में म्यांमार के रखाइन इलाके में आकर बस तो गया, लेकिन स्थानीय बौद्ध बहुसंख्यक समुदाय ने उन्हें आज तक नहीं अपनाया है. 2012 में रखाइन में कुछ सुरक्षाकर्मियों की हत्या के बाद रोहिंग्या और सुरक्षाकर्मियों के बीच व्यापक हिंसा भड़क गई. तब से म्यांमार में रोहिंग्या समुदाय के खिलाफ हिंसा जारी है. रोहिंग्या और म्यांमार के सुरक्षा बल एक-दूसरे पर अत्याचार करने का आरोप लगा रहे हैं. ताजा मामला 25 अगस्त को हुआ, जिसमें रोहिंग्या मुसलमानों ने पुलिस वालों पर हमला कर दिया. इस लड़ाई में कई पुलिस वाले घायल हुए, इस हिंसा से म्यांमार के हालात और भी खराब हो गए.

'इरमा' से उबरे अब 'मारिया' की मार, कैरिबियाई द्वीप की तरफ बढ़ रहा है चक्रवात
18 September 2017
वाशिंगटन: इस महीने की शुरुआत में आए चक्रवात इरमा के प्रभाव से कैरिबियाई द्वीप के लोग अभी उबर भी नहीं पाए हैं कि अब उन्हें चक्रवात मारिया का सामना करना पड़ेगा. मारिया 120 किलोमीटर की तेज हवाओं के साथ पूर्वी कैरिबियाई की ओर बढ़ रहा है. इसकी जानकारी अमेरिकी राष्ट्रीय चक्रवात सेंटर (एनएचसी) ने दी है. कैरिबियाई द्वीप पर चक्रवात संबंधी चेतावनी जारी की गई है. यहां के लोग अभी भी इरमा के विध्वंस से उबर नहीं पाए हैं. एनएचसी ने कहा कि पहले यह चक्रवात श्रेणी वन में था, जो कि सफीर-सिम्पसन स्केल के पांच प्वांइट में सबसे नीचे है. यह अभी बारबाडोस से 225 किलोमीटर दूर उत्तर पूर्व में है. इसमें बताया गया है कि सोमवार की रात में मारिया का केंद्र लीवार्ड द्वीप में होगा तथा मंगलवार को यह उत्तर-पूर्वी कैरिबियाई समुद्र तक पहुंचेगा
लंदन की अंडरग्राउंड ट्रेन में धमाका, कई घायल, स्टेशन खाली करवा पुलिस कर रही है तलाशी
15 September 2017
ब्रिटेन की राजधानी लंदन तकी अंडरग्राउंड ट्रेन में धमाका हुआ है. धमाका पारसंस ग्रीन स्टेशन पर हुआ. यह इलाका साउथ वेस्ट लंदन में आता है. इस धमाके में कई लोगों के घायल होने की खबर है. मौके पर पुलिस और फायर ब्रिगेड की गाड़ियां मौजूद हैं. लंदन में अंडरग्राउंड ट्रेन के ट्यूब ट्रेन कहा जाता है और यह आम लोगों की आवाजाही के लिए एक प्रमुख साधन है.फिलहाल इस रूट की ट्रेन सेवा बाधित है. स्टेशन को खाली करवा लिया गया है. तलाशी अभियान जारी है. लंदन के समय के मुताबिक- धमाका 8.21 AM पर हुआ. धमाके के वक्त लोगों के स्कूल और दफ्तर जाने का समय था, इस वजह वहां भीड़ थी. एक प्लास्टिक की बाल्टी नुमा चीज में यह धमाका हुआ. हालांकि यह धमाका कम तीव्रता का था, लेकिन इसमें कई लोगों के घायल होने की सूचना मिली है.
मलेशिया : धार्मिक स्कूल में आग लगने से 25 लोगों की मौत, मरने वालों में ज्यादातर स्टूडेंट्स
14 September 2017
कुआलालम्पुर : मलेशिया के एक धार्मिक स्कूल में आग लगने से आज 25 लोगों की मौत हो गई जिनमें से अधिकतर छात्र हैं. अधिकारियों ने कहा कि यह देश में अभी तक हुई आगजनी की सबसे भीषण घटनाओं में से एक है राजधानी कुआलालम्पुर के मध्य में स्थित ‘ताहफिज दारूल कुरान इत्तेफाकियाह’ नामक दो मंजिला इमारत में आग भोर से पहले लगी. दमकलकर्मी तुरंत ही मौके पर पहुंचे और करीब एक घंटे में आग पर काबू पा लिया गया लेकिन इससे पहले वहां भयानक तबाही मच चुकी थी. अग्निशमन एवं बचाव विभाग के निदेशक खीरुदीन द्रहमान ने कहा, ‘इतने सारे लोगों के मारे जाने की बात समझ नहीं आती.’ उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि पिछले 20 वर्षों में देश में हुई आगजनी की यह सबसे भीषण घटना है.’ उन्होंने हादसे में 23 छात्रों और दो वार्डन के मारे जाने की पुष्टि की है. आशंका है कि इन लोगों की मौत धुएं के कारण दम घुटने या आग में फंस जाने के कारण हुई. द्रहमान ने कहा, ‘हम आग लगने के कारणों का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं.’ सरकार के संघीय प्रदेशों के उप मंत्री लोगा बाला मोहन ने कहा, ‘हमारी संवेदनाएं पीड़तों के परिवार के साथ है. बीते कुछ सालों में हुई आगजनी की यह सबसे भीषण घटनाओं में से एक है.’ उन्होंने कहा, ‘हम चाहते हैं कि अधिकारी तत्काल आग लगने के कारणों का पता लगाएं ताकि भविष्य में ऐसी घटनाओं से बचा जा सके.
नए प्रतिबंधों से बौखलाया उत्तर कोरिया, कहा, हथियार कार्यक्रम को और बढ़ाएंगे
13 September 2017
सोल: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की ओर से लगाए गए ताजा प्रतिबंधों को 'दुष्टतापूर्ण' बताते हुए उत्तर कोरिया ने कहा है कि वह अपने हथियार कार्यक्रम को और आगे बढ़ाएगा. उत्तर कोरिया द्वारा हाल ही में किए गए परमाणु परीक्षण के मद्देनजर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) ने सर्वसम्मति से उसके खिलाफ कड़े प्रतिबंधों को मंजूरी दी है. हालांकि, उत्तर कोरिया पर प्रतिबंधों को लेकर अमेरिका की मांगों की धार रूस और चीन ने कम कर दी. इससे संयुक्त राष्ट्र में इन दोनों देशों का प्रभाव झलकता है. नए प्रतिबंधों के बाद उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय के बयान में कहा गया है, 'अमेरिका की ओर से लाए गए अवैध और दुष्टतापूर्ण प्रतिबंधों वाले प्रस्ताव को मंजूरी मिलना, डीपीआरके (उत्तर कोरिया) के लिए इसकी पुष्टि करने का और एक अवसर है कि उसके द्वारा चुना गया रास्ता सही है.' मंत्रालय ने बयान में कहा है, 'डीपीआरके देश की सम्प्रभुता और अस्तित्व के अधिकार को सुरक्षित रखने की क्षमता बढ़ाने के अपने प्रयासों को दोगुना करेगा सुरक्षा परिषद ने सोमवार को उत्तर कोरिया द्वारा संयुक्त राष्ट्र की पिछली प्रस्तावना की अवहेलना करने की आलोचना की थी और उसे अपने सभी बैलिस्टिक मिसाइल और परमाणु कार्यक्रमों को बंद करने के आदेश दिए थे. इन नए प्रतिबंधों के तहत उत्तर कोरिया को किए जाने वाली तेल आपूर्ति को सीमित कर दिया गया है, उसके कपड़ा निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिए गए हैं, भावी रोजगारों को भी सीमित कर दिया गया है. उत्तर कोरिया से आने और जाने वाले जहाजों की जांच के लिए बिना बल प्रयोग के अन्य देशों को अनुमति दी गई है. हथियारों में इस्तेमाल होने वाले अधिक से अधिक सामानों और प्रौद्योगिकियों को प्रतिबंधित सूची में डाल दिया गया है. अमेरिका की स्थायी प्रतिनिधि निकी हेली ने संयुक्त राष्ट्र में वोटिंग के बाद कहा कि अब उत्तर कोरिया के लगभग 90 फीसदी निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. इसके साथ ही लौह, लौह अयस्क,धातु, समुद्री भोजन और कोयला निर्यात पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है. निक्की ने कहा कि इससे उत्तर कोरिया को सालाना 1.3 अरब डॉलर का नुकसान होगा.
अमेरिका : घर में फुटबॉल मैच देख रहे लोगों पर अंधाधुंध फायरिंग, 8 की मौत, हमलावर भी मारा गया
12 September 2017
प्लानो: अमेरिका के उपनगर डलास के एक घर में फुटबॉल मैच देखने के लिए जुटे लोगों पर एक हमलावर ने अंधाधुंध फायरिंग की. इसमें 8 लोगों की मौत हो गई. बाद में पुलिस ने हमलावर को भी मार गिराया. रविवार रात करीब आठ बजे गोलीबारी की सूचना मिलने पर घटनास्थल पर पहुंचे एक अधिकारी ने हमलावर पर गोली चलाई, जिससे उसकी मौत हो गई. पुलिस ने पाया कि घटनास्थल पर नौ अन्य लोग थे, जिन्हें गोलियां लगी थीं. इनमें से सात की मौत हो चुकी थी और दो को अस्पताल ले जाया गया. अस्पताल में इलाज के दौरान एक घायल की मौत हो गई. पुलिस प्रवक्ता डेविड टिल्ले ने कहा, 'पहली बार घटनास्थल पर पहुंचने वाले पुलिस अधिकारी ने घर के भीतर गोलियां चलने की आवाज सुनीं.' अधिकारी पीछे की ओर से मकान में पहुंचा और उसने घर के पिछवाड़े में शव देखे और इसके बाद उसने संदिग्ध का सामना किया. पुलिस ने अभी तक संदिग्ध या मारे गए अन्य लोगों की पहचान की पुष्टि नहीं की है. पुलिस के मुताबिक हमलावर संदिग्ध घर में रहने वाले लोगों का परिचित था.
दक्षिणी मैक्सिको में 8.1 की तीव्रता वाले भूकंप से मरने वालों की संख्या 90 तक पहुंची
11 September 2017
जुचितान: जबरदस्त भूकंप से दक्षिण मैक्सिको में जनजीवन पर खासा प्रभाव पड़ा है. बार-बार भूकंप के झटकों से लोग काफी डरे हुए हैं. दक्षिण मैक्सिको में गुरुवार की रात आए 8.1 तीव्रता के भूकंप के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर 90 हो गई है. कम से कम तीन दर्जन लोग जुचितान में मारे गए हैं. भूकंप के कारण जुचितान शहर में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. लोग घरों से बाहर रहने को मजबूर हैं. यहां एक-तिहाई घर रहने लायक नहीं रह गए हैं और बार-बार आ रहे भूकंप के झटकों के कारण लोग उन इमारतों के भी करीब जाने से घबरा रहे हैं, जो अभी ठीक हालत में हैं. ओक्साका और चियापास में अधिकारियों ने बताया कि हजारों घर और सैकड़ों स्कूलों को नुकसान पहुंचा है या वे नष्ट हो गये हैं. सैकड़ों लोगों को पानी संकट से जूझना पड़ रहा है. शहर में आए भयावह भूकंप के बाद कई शक्तिशाली झटकों का आना जारी है जिसमें रविवार को आया 5.2 तीव्रता का भूकंप भी शामिल है. ऐसे में इमारतों के गिरने की आशंका से बड़ी संख्या में लोग बाहर ही सो रहे हैं
कैमरे में कैद : दो किलोमीटर तक दौड़ती रही कार, बोनट पर झूलता रहा पुलिसकर्मी
9 September 2017
नई दिल्ली: कभी कभी होता है कि कुछ फिल्मी सीन असल जिन्दगी में सच होते दिख जाते हैं. चीन के डालियान में ऐसा ही कुछ अजीबोगरीब नजारा देखने को मिला. एक कार को रोकने की कोशिश में एक पुलिसकर्मी को कार के बोनट पर चढ़ना पड़ा और वह दो किलोमीटर तक कार पर इस जोखिमभरी कंडीशन में देखा गया. अलग अलग सीसीटीवी कैमरों ने इस दृश्य को कैद किया. दरअसल एक चेकपॉइंट पर पुलिसवालने ने एक कार को रोकना चाहा. लेकिन ड्राइवर ने कार नहीं रोकी और चूंकि पुलिसकर्मी उस वक्त कार के एकदम करीब रहा होगा इसलिए जब ड्राइवर ने कार को तेजी से निकालने की कोशिश की तो पुलिसकर्मी को अपने आप को बचाने के लिए कार का बोनट का हिस्सा पकड़ना पड़ा और अंतत: वह कार के बोनट के ऊपर ही चढ़ गया. पुलिसकर्मी ट्रैफिक नियम तोडने वाले इस ड्राइवर को रोकने की कोशिश कर रहा था. 2 किलोमीटर तक इसी तरह कार दौड़ती रही तब तक जब तक दो लोगों ने इस ड्राइवर को पकड़ा नहीं.
भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत के 'सलामी स्लाइसिंग' वाले बयान से चीन हुआ खफा, दी यह प्रतिक्रिया
8 September 2017
बीजिंग: भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत के सलामी स्लाइसिंग वाले बयान पर चीन नाराज हो गया है. चीन ने कहा है कि जब दो दिन पहले चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दोस्ताना बयानों के बाद इस प्रकार का बयान उस साझा सहयोग की भावना के विपरीत है. चीनी सरकार के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कहा कि अभी हमें यह पता नहीं है कि यह बयान उनका अपना निजी बयान है या फिर भारत सरकार की इसमें सहमति है. बता दें कि बुधवार को भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने एक बार फिर दो फ्रंट पर युद्ध की संभावना से इनकार नहीं किया था. चीन से पिछले एक दशक में सबसे ज्यादा तनावपूर्ण स्थिति के समाप्त होने के एक हफ्ते के बाद उन्होंने यह बात कही थी. उन्होंने कहा कि उत्तर में चीन और पश्चिम में पाकिस्तान से लड़ाई की संभावना को नकारा नहीं जा सकता. उत्तर की स्थिति पर बोलते हुए उन्होंने कहा था कि चीन ने अपनी ताकत दिखाना शुरू किया है. 'सलामी स्लाइसिंह', यानी धीरे-धीरे भूभाग पर कब्जा करना, और दूसरे की सहने की क्षमता को परखना, चिंता का विषय है. हमें इस प्रकार की धीरे-धीरे उभरती स्थिति के लिए तैयार रहना चाहिए. सेना प्रमुख ने चीन के संबंध में यह बात कही थी. उन्होंने कहा था कि उत्तर की स्थिति के चलते पश्चिम से पाकिस्तान भी मौके का फायदा उठाना चाहे. उन्होंने चीन और पाकिस्तान की नजदीकी की बात भी कही थी. यह पहली बार नहीं है जब चीन और पाकिस्तान को लेकर सेना प्रमुख ने इस प्रकार से दो फ्रंट पर युद्ध वाला बयान दिया. यह दर्शाता है कि भारत सेना चीन के साथ पनपी स्थिति को लेकर कितनी संवेदनशील है. सेना प्रमुख का यह बयान तब आया था जब चीन में हाल ही भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने सीमा पर विवादों को शांतिप्रिय ढंग से सुलझाने के लिए और प्रयासों पर बल दिया था. शी चिनफिंग ने कहा कि दोनों देशों के लिए यह जरूरी है कि हम सही रास्तों पर चलें. बता दें कि जून के मध्य भारतीय सेना ने सिक्किम की सीमा पार कर भूटान के इलाके में डोकलाम पर चीन के सड़क निर्माण कार्य को रोका था. भारत इस मामले में भूटान के दावे के समर्थन में वहां खड़ा था. चीन इस बात से नाराज हुआ और उसने भारत पर उसके भूभाग में घुसने का आरोप लगाया. भारत ने साफ कहा कि यह नई सड़क उसके उत्तर पूर्व राज्यों के लिए रणनीतिक खतरा पैदा करती है. यहां पर भारत और चीन के सैनिक करीब 70 दिनों तक नॉन कॉम्बैटिव मोड में एक दूसरे के सामने खड़े रहे. बाद में चीन ने सड़क निर्माण का साजोसामान वहां से हटाया और दोनों ओर के सैनिक अपनी अपनी बैरिकों में लौट गए वहीं, भारत ने जापान के साथ अपने सैनिक संबंधों को बढ़ाया है. भारत के रक्षामंत्री अरुण जेटली ने जापान के साथ इस संबंध में कुछ समझौते किए हैं. निर्मला सीतारमण गुरुवार को रक्षामंत्री का कार्यभार संभालेंगी. माना जा रहा है कि जापान के साथ भारत के इस प्रकार के संबंध बढ़ाने से चीन को नाराजगी होगी. जापान और भारत की सेनाएं अगले साल साझा एंटी टेरिज्म अभ्यास करेंगी. यह पहली बार होगा जब दोनों देश की सेनाएं ऐसे किसी अभ्यास में साथ नजर आएंगी.
अमेरिकी हवाई हमलों में सीरिया में 978 लोगों की हुई मौत
7 September 2017
दमिश्क: सीरिया के रक्का में बीते तीन महीनों में अमेरिका के नेतृत्व में किए गए हवाई हमलों में 978 नागरिकों की मौत हुई है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने ब्रिटेन की मानवाधिकार संस्था सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स के हवाले से बताया कि मृतकों में 234 बच्चे और 163 महिलाएं हैं. अमेरिका के नेतृत्व मे सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्सेज (एसडीएफ) ने रक्का से इस्लामिक स्टेट (आईएस) को खदेड़ने के लिए एक व्यापक अभियान शुरू किया है, जिसके मद्देनजर बीते तीन महीनों में मृतकों की संख्या बढ़ी है.
भारत और म्यांमार ने रिश्ते मजबूत करने के लिए कदम बढ़ाए, 11 एमओयू पर किए हस्ताक्षर
6 September 2017
ने प्यी ता: भारत और म्यांमार ने आज विभिन्न क्षेत्रों में 11 सहमति ज्ञापनों (एमओयू) पर दस्तखत किए. इनमें एक समझौता सामुद्रिक क्षेत्र की सुरक्षा से संबंधित है. माना जा रहा है कि इन समझौतों से दोनों देशों के रिश्ते और मजबूत हो सकेंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और म्यांमार की स्टेट काउंसिलर आंग सान सू की के बीच व्यापक महत्व के मुद्दों पर विचार विमर्श के बाद इन समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए. भारत और म्यांमार ने सामुद्रिक क्षेत्र की सुरक्षा में सहयोग के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर किए हैं. दोनों पक्षों ने व्हाइट शिपिंग सूचनाओं को साझा करने के लिए भी करार किया है. यह वाणिज्यिक गैर सैन्य मर्चेंट जहाजों की पहचान के बारे में अग्रिम में सूचना देने से संबंधित है. इस करार से गैर वगीकृत मर्चेंट नेवी जहाजों या कार्गो जहाजों के बारे में डेटा देने के कामकाज में सुधार होगा. इन 11 में से एक एमओयू चुनाव आयोग और म्यांमार के राष्ट्रीय स्तर के चुनाव आयोग यूनियन इलेक्शन के बीच भी किया गया है. विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि 2017 से 2020 के दौरान दोनों देशों के बीच सांस्कृतिक आदान-प्रदान कार्यक्रम के लिए भी एमओयू किया गया है. भारत और म्यांमार ने भारतीय प्रेस परिषद तथा म्यामां प्रेस काउंसिल के बीच सहयोग के लिए भी करार किया है. साथ ही आईटी कौशल को बढ़ाने के लिए भारत-म्यांमार केंद्र की स्थापना के बारे में करार को विस्तार दिया गया है. दोनों देशों ने चिकित्सा उत्पाद नियमन तथा स्वास्थ्य और दवा क्षेत्र में भी सहयोग के लिए करार पर दस्तखत किए हैं. साथ ही म्यांमार के यामेथिन में महिला पुलिस प्रशिक्षण केंद्र के उन्नयन के लिए सहयोग का भी करार किया गया है. मोदी दो देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यहां पहुंचे हैं. इससे पहले उन्होंने चीन के शहर श्यामन में वार्षिक ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में हिस्सा लिया था. मोदी ने अपनी चीन यात्रा के दौरान चीनी राष्ट्रपति शिन चिनफिंग और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन तथा दुनिया के अन्य नेताओं के साथ बातचीत की थी यह मोदी की म्यामार की पहली द्विपक्षीय यात्रा है. इससे पहले वे 2014 में आसियन-भारत शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने यहां आए थे. सू की पिछले साल भारत यात्रा पर गई थीं. म्यांमार भी भारत के रणनीतिक पड़ोसी देशों में आता है. इसकी 1,640 किलोमीटर की लंबी सीमा भारत के कई पूर्वोत्तर राज्यों से लगती है.
श्रीलंकाई नौसेना ने 80 भारतीय मछुआरों को किया रिहा
5 September 2017
इस्लामाबाद: पाकिस्तान के पूर्व सैन्य शासक परवेज मुशर्रफ ने कहा है कि वह पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो की हत्या के मामले में मुकदमे का सामना करने के लिए स्वदेश लौटेंगे. गौरतलब है कि पाकिस्तान की एक अदालत ने 2007 के बेनजीर हत्याकांड के मामले में गुरुवार को मुशर्रफ को भगोड़ा करार दिया था.
स्वस्थ होने पर स्वदेश लौटेंगे मुशर्रफ
मुशर्रफ ने मीडिया को जारी किए गए बयान में रविवार को कहा कि रावलपिंडी आतंकवाद रोधी अदालत का फैसला उनके खिलाफ नहीं है. उन्होंने कहा, जब मैं पूरी तरह से स्वस्थ हो जाउंगा, तब मैं निश्चित तौर पर पाकिस्तान लौटूंगा और मुकदमे का सामना करूंगा. इस मामले में मुझे फंसाया गया है, जबकि इस दर्दनाक मौत से मेरा कोई लेना देना नहीं है. इस मामले में उन पर हत्या और आपराधिक साजिश रचने का आरोप है. वह दुबई में स्वनिर्वासन में हैं. श्रीलंकाई नौसेना और तटरक्षक बल ने श्रीलंका के समुद्री क्षेत्र में अवैध रूप से मछली पकड़ने के लिए अलग-अलग मौकों पर 76 भारतीय मछुआरों को पकड़ा था. खबर के मुताबिक, भारतीय मछुआरों को कंकेसनथुरई में अंतरराष्ट्रीय समुद्री सीमा रेखा पर भारतीय तटरक्षक बल के जहाज ‘सारंग’ में भेज दिया गया है.

बेनजीर हत्या मामले में मुकदमे का सामना करने को तैयार हैं मुशर्रफ, लौटेंगे पाकिस्तान
4 September 2017
इस्लामाबाद: पाकिस्तान के पूर्व सैन्य शासक परवेज मुशर्रफ ने कहा है कि वह पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो की हत्या के मामले में मुकदमे का सामना करने के लिए स्वदेश लौटेंगे. गौरतलब है कि पाकिस्तान की एक अदालत ने 2007 के बेनजीर हत्याकांड के मामले में गुरुवार को मुशर्रफ को भगोड़ा करार दिया था.
स्वस्थ होने पर स्वदेश लौटेंगे मुशर्रफ
मुशर्रफ ने मीडिया को जारी किए गए बयान में रविवार को कहा कि रावलपिंडी आतंकवाद रोधी अदालत का फैसला उनके खिलाफ नहीं है. उन्होंने कहा, जब मैं पूरी तरह से स्वस्थ हो जाउंगा, तब मैं निश्चित तौर पर पाकिस्तान लौटूंगा और मुकदमे का सामना करूंगा. इस मामले में मुझे फंसाया गया है, जबकि इस दर्दनाक मौत से मेरा कोई लेना देना नहीं है. इस मामले में उन पर हत्या और आपराधिक साजिश रचने का आरोप है. वह दुबई में स्वनिर्वासन में हैं.

बसों में सवार इस्लामिक स्टेट के आतंकी और उनके परिवारों का काफिला सीरियाई रेगिस्तान में फंसा
2 September 2017
वाशिंगटन: अमेरिकी नेतृत्व में इस्लामिक स्टेट समूह से लड़ने वाले गठबंधन बल ने कहा है कि इस्लामिक स्टेट के आतंकियों और उनके परिवारों को ले जाने वाली 17 बसों का काफिला सीरिया के रेगिस्तान में फंसा हुआ है. गठबंधन सेना ने शुक्रवार को कहा कि वह एक उपाय की खोज रही है ताकि काफिले में शामिल महिलाओं और बच्चों को और अधिक कष्टों से बचाया जा सके. सेना ने कहा गया है कि गठबंधन सेना ने काफिले पर हमला नहीं किया है. उसने काफिले को इराक सीमा तक पहुंचाने में मदद करने वाले आईएस के लड़ाकों और वाहनों पर हमला किया है. इसमें एक टैंक और अन्य सशस्त्र वाहन शामिल हैं गठबंधन सेना ने कहा कि उसके अधिकारियों ने सीरिया की सरकार को संदेश देने के लिए रूसी समकक्षों से संपर्क किया है. सीरियाई सरकार इस हफ्ते की शुरुआत में पश्चिमी सीरिया से इराकी सीमा के नजदीकी क्षेत्र में काफिले को पहुंचाने में मदद की कोशिश कर रही थी.
पीएम की चीन यात्रा : शी जिनपिंग और मोदी की मुलाकात में हो सकती है इन मुद्दों पर बातचीत
1 September 2017
नई दिल्ली: अगले सप्ताह होने जा रहे ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के दौरान इससे हटकर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की मुलाकात होने की उम्मीद है. यदि मोदी व शी जिनपिंग की मुलाकात हुई तो दो महीने से ज्यादा समय तक चले डोकलाम गतिरोध के खत्म होने के बाद यह महत्वपूर्ण मुलाकात होगी. डोकलाम गतिरोध को लेकर दोनों देशों के संबंधों में खटास बढ़ गई थी. ब्रिक्स की वार्षिक बैठक चीन के शियामेन शहर में 3 सितंबर को शुरू होगी. इस तीन दिवसीय बैठक में पांच सदस्य देश ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका भाग लेंगे. इस दौरान अगर मोदी-शी की बैठक हुई तो इन दोनों नेताओं की इस साल यह तीसरी बैठक होगी. उनकी पिछली बैठक शंघाई सहयोग संगठन की अस्ताना में जून में हुए सम्मेलन में हुई थी. वे अनौपचारिक तौर पर जर्मनी में जी-20 के दौरान भी मिले थे. भारत और चीन आर्थिक विकास को रफ्तार देने के लिए आपसी कारोबार बढ़ाने को अहम मानते हैं, लेकिन दोनों के बीच रिश्ते ठीक नहीं हैं. संबंधों को पूरी तरह सामान्य बनाने के लिए जरूरी है कि सीमा विवाद सहित अन्य मुद्दे सुलझाए जाएं. चूंकि डोकलाम पर लंबा चला गतिरोध खत्म हो चुका है इसलिए अब संबंधों को सामान्य बनाने की दिशा में दोनों देशों की ओर से प्रयास किए जा सकते हैं.
भारत-चीन के बीच विवाद के मुद्दे..
दोनों देशों के बीच सीमा को लेकर विवाद- भारत और चीन के बीच चार हजार किलोमीटर की सीमा (एलएसी) है जो कि निर्धारित नहीं है. भारत और चीन की सेना का जहां तक कब्जा है, वही नियंत्रण रेखा है. यह रेखा 1914 में मैकमोहन ने तय की थी. हालांकि इसे चीन नहीं मानता और अक्सर घुसपैठ की कोशिश करता रहता है. तिब्बत विवाद - दोनों देशों के बीच विवाद की बड़ी वजह है तिब्बत. तिब्बत को भारत मान्यता देता है और चीन भारत के इस रुख से नाराज रहता है. तिब्बत के मुद्दे पर ही भारत और चीन के बीच युद्ध भी हो चुका है. अरुणाचल प्रदेश - भारतीय राज्य अरुणाचल प्रदेश पर चीन अपना दावा जताता है. अरुणाचल को विवादित बताने के लिए ही चीन वहां के निवासियों को स्टेपल वीजा देता है. भारत इस मुद्दे को चीन के रुख का लगातार विरोध करता रहा है. लद्दाख में सड़क निर्माण - भारत के लद्दाख में पांगोंग झील के पास सड़क निर्माण के फैसले पर चीन को आपत्ति है. भारत के गृह मंत्रालय ने पांगोंग झील से 20 किलोमीटर दूर एक सड़क निर्माण को मंजूरी दी है. जम्मू-कश्मीर - चीन जम्मू-कश्मीर को भारत का अंग नहीं मानता है. दूसरी तरफ वह पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) को पाकिस्तान का हिस्सा मानता है. इस पर भारत उससे नाराज है. पीओके में प्रोजेक्ट - चीन ने पाक अधिकृत कश्मीर में 46 बिलियन डॉलर की लागत का प्रोजेक्ट शुरू किया है, जो विवाद का कारण बन गया है. ब्रह्मपुत्र नदी- चीन ब्रम्हपुत्र नदी पर कई बांध बनाकर सारा पानी रोक रहा है. इसका भारत विरोध कर रहा है. महासागर में गतिविधियां - चीन ने हिंद महासागर में अपनी गतिविधियां बढ़ा दी हैं जिसको लेकर भारत को आपत्ति है.

उत्तर कोरिया की हरकतों और धमकियों से बढ़ रहा है युद्ध का खतरा, अमेरिका ने कहा- सभी विकल्प खुले
31 Aug 2017
नई दिल्ली: अमेरिका ने कहा है कि परमाणु हथियार संपन्न उत्तर कोरिया की ओर से बढ़ रहे खतरे से निपटने के लिए उसने सभी विकल्प खुले रखे हैं. उत्तर कोरिया ने मंगलवार को एक बैलिस्टिक मिसाइल प्रक्षेपित की जो जापान के ऊपर से निकली, इस घटना के बाद से तनाव बढ़ गया है. व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने कल एयर फोर्स वन विमान में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ सवार संवाददाताओं को बताया 'मुझे लगता है कि इस बयान में राष्ट्रपति (डोनाल्ड ट्रंप) का उत्तर कोरिया के बारे में रूख बिल्कुल साफ है कि सभी विकल्प खुले हैं और विचार जारी है.' वह प्योंगयांग द्वारा बार बार किए जा रहे बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षणों पर अमेरिकी राष्ट्रपति तथा रक्षा मंत्री जिम मैटिस के बयानों संबंधी सवालों के जवाब दे रही थीं. ट्रंप ने ट्वीट में उत्तर कोरिया के साथ बातचीत को नकारा वहीं मैटिस ने कहा कि अमेरिका के सामने कूटनीतिक विकल्प हैं. सैंडर्स ने कहा 'हम पहले भी कह चुके हैं कि हम सभी तरीके अपनाने जा रहे हैं और उनमें से एक जारी रहेगा. लेकिन एकीकृत नीति और योजना का हिस्सा ही आगे बढ़ाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि ट्रंप प्रशासन उत्तर कोरिया पर कड़े प्रतिबंध लगा कर, उस पर लगातार दबाव बना कर गंभीर कार्रवाई कर रहा है तथा अपने विकल्पों पर विचार कर रहा है. आपको बता दें कि उत्तर कोरिया ने मंगलवार को बैलिस्टिक मिसाइल दागी जो लगभग 550 किमी की ऊंचाई से, जापान के उत्तरी द्वीप होक्काइदो के ऊपर से होते हुए गई और करीब 2,700 किमी की दूरी तय कर प्रशांत महासागर में गिरी. इस बीच, सीनेटर जोए डानेली तथा बेन सेस ने उत्तर कोरिया पर तथा उसका साथ देने के लिए चीन पर प्रतिबंध बढ़ाने पर जोर दिया है.
नाव से दूसरे देश की सीमा में घुसने पर 6 चीनी नागरिक गिरफ्तार
30 Aug 2017
नई दिल्ली: नौका से आस्ट्रेलिया पहुंचने का प्रयास कर रहे चीन के छह और पापुआ न्यू गिनी के एक नागरिक को हिरासत में ले लिया गया है जबकि उनमें से दो पर मानव तस्करी करने का आरोप है. अधिकारियों ने आज यह जानकारी दी. व्यक्तियों को आस्ट्रेलिया के उत्तर में टॉरेस स्ट्रेट में पकड़ा गया. सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड ने बताया कि वे पिछले सप्ताह सैबई द्वीप पर आए जो करीब तीन सालों में ऑस्ट्रेलियाई तटों तक पहुंचने वाली पहली सफल नौका यात्रा है अधिकारियों ने समूह के देश में पहुंचने की खबर की पुष्टि नहीं की है. सोमवार को सरकार ने 1,000 से अधिक दिनों में नौका से किसी भी प्रवासी को आने से रोकने में अपनी सफलता की बात कही है. प्रवासी एंव सीमा सुरक्षा विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया, ‘हाल ही में आस्ट्रेलियाई सीमा बल ने आस्ट्रेलिया में अवैध तरीके से प्रवेश करने का प्रयास कर रहे छह चीनी नागरिकों को देखा और उन्हें हिरासत में ले लिया.’ बताया गया है कि पांच लोगों को वापस चीन भेज दिया गया है जबकि पापुआ न्यू गिनी के एक नागरिक सहित दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है और उन पर मानव तस्करी का आरोप लगाया गया है
सऊदी अरब : हज यात्रा के लिए विश्वभर से 20 लाख हाजियों के मक्का पहुंचने की उम्मीद
28 Aug 2017
सऊदी अरब : हज यात्रा के लिए विश्वभर से 20 लाख हाजियों के मक्का पहुंचने की उम्मीद: इस वर्ष मक्का में बड़ी संख्या में हाजियों के पहुंचने का अनुमान लगाया जा रहा है. हज यात्रा के लिए विश्वभर से 20 लाख हाजियों के सऊदी अरब के मक्का पहुंचने की उम्मीद है. हज यात्रा के लिए विश्वभर से 20 लाख हाजियों के मक्का पहुंचने की उम्मीद है. इस साल शिया बहुल ईरान के श्रद्धालु भी इस हज यात्रा में शामिल होंगे. ईरान सुन्नी बहुल सऊदी अरब का क्षेत्रीय प्रतिद्वंद्वी है. इंडोनेशिया की 47 वर्षीय एनी ने कहा, 'मैं बहुत उत्साहित हूं क्योंकि बहुत से लोग इस जगह आने का सपना देखते हैं.' उन्होंने कहा, 'इस जगह से जाने के बाद हम खुद को ज्यादा धार्मिक महसूस करते हैं.' इंडोनेशिया सर्वाधिक जनसंख्या वाला मुस्लिम देश है और यहां से हज यात्रा पर जाने वाले हाजियों की संख्या भी सबसे अधिक होती है. हज इस्लाम धर्म के पांच स्तंभों में से एक है. हर मुसलमान को अपने जीवनकाल में कम से कम एक बार हज यात्रा करनी होती है, यदि वह ऐसा करने में समर्थ हो. हज और उमरा मामलों के निदेशक अब्देलमजीद मोहम्मद अल-अफगानी ने बताया, 'इस साल हम 20 लाख हाजियों के यहां पहुंचने की उम्मीद कर रहे हैं.' ईरान के लोग भी इस साल हज में शामिल हो रहे हैं जो 2015 में मक्का में हुई भगदड़ के कारण पिछले साल यहां नहीं आए थे. इस भगदड़ में तकरीबन 2,300 लोगों की मौत हो गई थी वहीं पिछले तीन महीनों से खाड़ी देश राजनीतिक संकट में फंसे हुए हैं जहां सऊदी अरब और उसके सहयोगी कतर के खिलाफ खड़े हो गए हैं. उन्होंने कतर पर ईरान से करीबी संबंध होने और चरमपंथ को बढ़ावा देने के आरोप लगाए हैं. गैस समृद्ध कतर पर पांच जून से प्रतिबंध लागू हैं. इससे कतर का भूमि, समुद्री और हवाई संपर्क बुरी तरह प्रभावित हुआ है. इससे हज यात्रा पर भी कुछ प्रभाव पड़ा है हालांकि रियाद ने घोषणा की थी कि वह हाजियों के लिए कुछ प्रतिबंधों में रियायत देंगे
अमेरिकी सेना में ट्रांसजेंडरों की एंट्री बैन करने की ओर ट्रंप सरकार
26 Aug 2017
वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सेना में ट्रांसजेंडरों की नियुक्ति से संबंधित पूर्ववर्ती ओबामा प्रशासन की योजना पर प्रतिबंध लगाने का पेंटागन को आदेश देने वाले एक ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए है. बहरहाल डेमोक्रेटिक नेताओं ने इस कदम को 'क्रूर' और अमेरिका के सैनिकों को 'अपमानित' करने के इरादे से उठाया गया कदम बताया है. ज्ञापन की एक प्रति व्हाइट हाउस ने जारी की है जिसमें ट्रम्प ने रक्षा मंत्री, गृह सुरक्षा मंत्री को सैन्य सेवा में जून 2016 से पहले ट्रांसजेंडर नागरिकों को लेकर मौजूद पुरानी परंपरा की ओर लौटने का निर्देश दिया था. ज्ञापन में ट्रम्प ने आरोप लगाया था कि पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ट्रांसजेंडर नागरिकों को सेना में खुले तौर पर सेवाएं देने की इजाजत देकर रक्षा विभागों के स्थापित ढांचे को ध्वस्त किया. ज्ञापन में 21 फरवरी 2018 तक प्रतिबंध लागू करने के लिये पेंटागन से एक कार्यान्वयन योजना विकसित करने का अनुरोध किया गया है, जिसे 23 मार्च 2018 को लागू किया जाएगा. पिछले महीने ट्रम्प ने ट्विटर पर इस संबंध में अपने फैसले की घोषणा की थी पेंटागन की प्रेस सचिव डाना व्हाइट ने बताया कि सेना में ट्रांसजेंडर कर्मियों की सेवा के संबंध में रक्षा मंत्रालय को व्हाइट हाउस से औपचारिक दिशानिर्देश मिले हैं. उन्होंने कहा, 'इस संबंध में आगे की सूचना की प्रतीक्षा की जा रही है.' फैसले की आलोचना करते हुए प्रतिनिधि सभा की डेमोक्रेटिक नेता नैंसी पेलोसी ने कहा कि ट्रम्प का ज्ञापन पेंटागन को अमेरिका की सेना में पूरे दमखम और साहस से सेवा देने वाले हजारों अमेरिकी नागरिकों को आहत और अपमानित करने का आदेश देता है.
थाईलैंड की पूर्व प्रधानमंत्री यिंगलक शिनावात्रा के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी
25 Aug 2017
बैंकॉक: थाईलैंड के सर्वोच्च न्यायालय ने देश की पूर्व प्रधानमंत्री यिंगलक शिनावात्रा के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है. उन्हें मामले की सुनवाई में अदालत नहीं पहुंचने पर वारंट जारी किया गया है यिंगलक पर चावल सब्सिडी घोटाले में मामला दर्ज है. समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, अदालत ने सुनवाई की तारीख 27 सितंबर मुकर्रर की है और उनके वकील द्वारा उनकी खराब हालत के दस्तावेज अदालत में पेश नहीं कराए जाने पर गिरफ्तारी वारंट जारी किया.
कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो बोले, अवैध तरीके से कनाडा आए तो नहीं मिलेगा कोई लाभ
24 Aug 2017
मांट्रियल: कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो का कहना है कि अमेरिका से कनाडा में प्रवेश के दौरान अंतरराष्ट्रीय सीमा पर मौजूद चेक पॉइंट को अवैध तरीके से पार करने वाले शरणार्थियों को कोई लाभ नहीं मिलेगा. उन्होंने वर्तमान में अंतरराष्ट्रीय सीमा को पैदल पार कर अमेरिका से क्यूबेक प्रांत पहुंचने वाले शरणार्थियों की संख्या में कमी लाने के लिए यह टिप्पणी की है. संवाददाता सम्मेलन के दौरान ट्रूडो ने कहा, ‘‘कनाडा खुले विचारों वाला और सभी का स्वागत करने वाला समाज है, क्योंकि कनाडा के लोगों को अपनी आव्रजन प्रणाली पर भरोसा है, विश्वास है कि हमारा देश विधि के शासन पर चलता है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘यदि आप अवैध तरीके से कनाडा में प्रवेश करते हैं तो आपको कोई लाभ नहीं होगा. आप नियमों का पालन करें.’’ क्यूबेक के अधिकारियों के साथ मिलने के बाद ट्रूडो ने खेतों और जंगलों के जरिए राज्य में अवैध तरीके से प्रवेश करने वालों से निपटने के लिए एक कार्य दल के गठन की बात भी कही.
लंदन की मस्जिद में बना दुनिया का सबसे बड़ा समोसा, देखते ही लोगों के मुंह में आया पानी
23 Aug 2017
नई दिल्ली: समोसा का नाम सुनते ही हम भारतीयों के मुंह में पानी आ जाता है. खासकर जब हम विदेश जाते हैं तो समोसे को मिस करते हैं. अगर वहां किसी रेस्टोरेंट में समोसा दिख जाए तो फौरन मन करता है इसका स्वाद चख लिया जाए. इस बार भारत से हजारों मील दूर लंदन में समोसा सुर्खियां में है. वहां के टीवी चैनलों, अखबारों तक में इस खास समोसा की चर्चा हो रही हैं. दरअसल, यह समोसा थोड़ा हटकर है. मंगलवार को इंग्लैंड की राजधानी लंदन में दुनिया के सबसे बड़े समोसे को लोगों ने देखा. इसका वजन 153.1 (337.5 पाउंड) किलोग्राम का था. इस विशालकाय समोसे को पूर्वी लंदन के एक मस्जिद में तैयार किया गया था. मुस्लिम समुदाय के लोगों की भलाई के लिए काम करने वाले संगठन ने इसका निर्माण किया था. समोसे को बनाने के दौरान मस्जिद में गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के कर्मचारी वहां मौजूद रहे. गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के कर्मचारी प्रवीण पटेल ने बताया कि इस विशालकाय समोसे को बनाने में सारे नियमों का पालन किया गया. समोसा का स्वाद चखने के बाद कर्मचारी ने इसे दुनिया का सबसे बड़ा समोसा होने का खिताब दे दिया. इससे पहले इंग्लैंड में ही साल 2012 में ब्रैडफोर्ड कॉलेज 110.8 किलो का समोसा तैयार किया गया था. इस बार मस्जिद के लोगों ने इस रिकॉर्ड को अपने नाम कर लिया दुनिया के सबसे बड़े समोसा को बनाने की पूरी प्रकिया को संभालने वाले 26 वर्षीय प्रोजेक्ट मैनेजर फरीद इस्लाम ने कहा कि यह उनके लिए बिल्कुल ही नया अनुभव था. पहले तो वे घबराए हुए थे, लेकिन सबकुछ सफलता पूर्वक हो जाने से वे काफी संतुष्ट महसूस कर रहे हैं. दुनिया के सबसे बड़े समोसे का स्वाद चखने के एवज में हुई कमाई मुस्लिम समाज के लोगों की तरक्की पर खर्च किया जाएगा. मालूम हो कि समोसा केवल भारत ही नहीं, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका समेत लगभग पूरे एशिया महादेश में काफी लोकप्रिय स्नैक्स होता है
तो अमेरिका के लिए कब्रगाह बन जाएगा अफगानिस्तान : तालिबान की चेतावनी
22 Aug 2017
काबुल: तालिबान ने अपने एक चेतावनी भरे बयान में अमेरिका पर निशाना साधा है. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा हजारों अमेरिकी सैनिकों को युद्ध प्रभावित अफगानिस्तान में भेजने का रास्ता साफ किए जाने के बाद मगलवार को तालिबान ने चेतावनी दी है कि अफगानिस्तान अमेरिका के लिए ‘एक कब्रगाह’ बन जाएगा. अफगानिस्तान में तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने एक बयान में कहा, ‘यदि अमेरिका अफगानिस्तान से अपने सैनिक नहीं हटाता है तो जल्दी ही 21वीं सदी की इस महाशक्ति के लिए अफगानिस्तान एक अन्य कब्रगाह बन जाएगा.’ उसने कहा कि अमेरिका को ‘युद्ध जारी रखने के बजाय’ अफगानिस्तान से निकलने की रणनीति के बारे में सोचना चाहिए. मुजाहिद ने कहा, ‘जब तक अमेरिका का एक भी सैनिक हमारी धरती पर है, और जब तक वे हमपर युद्ध थोपना जारी रखते हैं, तब तक हम पूरे मनोबल के साथ अपना जिहाद जारी रखेंगे.’ सोमवार को कमांडर-इन-चीफ के तौर पर देश को दिए अपने पहले औपचारिक संबोधन में ट्रंप अमेरिका के सबसे लंबे युद्ध को खत्म करने के अपने वादे से पीछे हट गए. हालांकि उन्होंने इसपर विशेष जानकारी नहीं दी. उन्होंने कहा कि वह इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि ‘त्वरित निकासी अस्वीकार्य और पूर्वानुमान लायक है.’ इससे एक ऐसा शून्य पैदा हो जाएगा, जिसे आतंकी ‘तुरंत भर देंगे.’ ट्रंप ने सैनिकों की संख्या के बारे में विस्तार से बताने से मना कर दिया लेकिन व्हाइटहाउस के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने अपने रक्षामंत्री को 3900 तक और सैनिक तैनात करने का अधिकार दे दिया है. इससे पहले मुजाहिद ने रणनीति को अस्पष्ट बताते हुए खारिज कर दिया था. उसने कहा था कि इस रणनीति में ‘कुछ भी नया’ नहीं है. तालिबान के एक वरिष्ठ कमांडर ने एएफपी को बताया कि ट्रंप जॉर्ज बुश जैसे पिछले राष्ट्रपतियों के ‘अहंकारी बर्ताव’ को स्थायी ही बना रहे हैं. उसने कहा, ‘वह अमेरिकी सैनिकों को बर्बाद कर रहे हैं. हम जानते हैं कि हमारे देश की रक्षा कैसे करनी है. इससे कुछ नहीं बदलेगा.’ प्रवक्ता ने एक अज्ञात स्थान से न्यूज ऐजेंसी एएफपी को टेलीफोन पर बताया, ‘ हम कई पीढ़ियों से इस युद्ध को लड़ रहे हैं. हम डरे नहीं हैं. हम तैयार हैं और अपनी आखिरी सांस तक इस युद्ध को जारी रखेंगे.’ उसने कहा कि बयान ने साबित कर दिया है कि मौजूदा अफगान सरकार ‘अमेरिका के हाथ की कठपुतली’ है. ट्रंप के बयान के कुछ ही मिनट बाद आतंकियों ने अपने इरादों के भी संकेत दे दिए. आतंकियों ने दावा किया कि काबुल स्थित अमेरिकी दूतावास को सोमवार रात रॉकेट हमले से निशाना बनाया गया. शहर के राजनयिक क्वार्टर के क्षेत्र में सोमवार को रॉकेट गिरा था. हालांकि इसके कारण किसी के हताहत होने की जानकारी नहीं मिली. वह ‘अराजकता के एजेंटों’ को पनाहगाह उपलब्ध करवाने को लेकर पाकिस्तान पर भी बरसे. तालिबान के सहयोगी हक्कानी नेटवर्क के एक कमांडर ने न्यूज ऐजेंसी एएफपी से कहा कि ट्रंप ने यह साबित कर दिया है कि यह एक धर्मयुद्ध है. लंबे समय से यह माना जाता है कि हक्कानी नेटवर्क का पाकिस्तान के सैन्य प्रतिष्ठान से संबंध रहा है. कमांडर ने कहा, ‘ट्रंप के बयान ने साबित किया है कि अमेरिका पूरे मुस्लिम समुदाय को मिटा देना चाहता है.’ ट्रंप की घोषणा से पहले तालिबान ने उन्हें चेतावनी देते हुए एक खुला खत लिखा था और चेतावनी दी थी कि वह अफगानिस्तान में और अधिक सैनिक न भेजे और यहां से विदेशी बलों को पूरी तरह हटा लें.
पाकिस्तान को चीन और रूस के करीब ला सकती है अमेरिका की नई अफगान नीति: रिपोर्ट
21 Aug 2017
इस्लामाबाद: ट्रंप प्रशासन की नई अफगान रणनीति के किसी भी नतीजे को संतुलित करने के लिए पाकिस्तान को चीन और रूस के साथ कहीं 'गहरे' संबंध बनाने की कोशिश करनी पड़ सकती है. यह बात मीडिया में आई एक रिपोर्ट में कही गई है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप युद्धप्रभावित अफगानिस्तान के लिए बहुप्रतीक्षित नई रणनीति की घोषणा करने वाले हैं. खबरों में कहा गया है कि अपनी नीति की समीक्षा के दौरान ट्रंप प्रशासन ने भारत की भूमिका की संभावनाओं पर गौर किया और कल अमेरिकी रक्षा मंत्री जिम मैटिस ने इस बात की पुष्टि की कि नई नीति एक पूर्ण 'दक्षिण एशिया रणनीति' है. द एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने 'इस योजना से परिचित कम से कम दो अधिकारियों के हवाले से कहा' कि पाकिस्तान नई अफगान रणनीति के किसी भी परिणाम को संतुलित करने के लिए विभिन्न विकल्पों पर विचार कर रहा है." रिपोर्ट में कहा गया कि पाकिस्तान के अधिकारियों ने यह स्वीकार किया है कि वॉशिंगटन से मिल रहे संकेतों को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि आने वाले महीनों में इस्लामाबाद के धैर्य की निश्चित तौर पर परीक्षा होगी. एक अधिकारी ने दैनिक अखबार को बताया कि अमेरिका की ओर से कोई कठोर कदम उठाए जाने की सूरत में पाकिस्तान के पास चीन और रूस के साथ अपना सहयोग बढ़ाने और गहराने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचेगा. पाकिस्तान और चीन के बीच एक सर्वकालिक संबंध है. दोनों देशों के नेताओं ने इस संबंध को बेहद मजबूत संबंध कहा है. कुछ साल पहले बीजिंग की ओर से ‘वन बेल्ट, वन रोड’ पहल की घोषणा किए जाने पर इनका संबंध आगे बढ़ा है. दोनों देशों के बीच एक महत्वाकांक्षी पहल के तहत 50 अरब डॉलर का चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा पाक अधिकृत कश्मीर से होकर गुजरता है. रिपोर्ट में दावा किया गया कि रूस के साथ पाकिस्तान के संबंध भी शीत युद्ध के दौर की शत्रुताओं से आगे बढ़ चुके दिखाई देते हैं आकस्मिक स्थितियों में पाकिस्तान की पहली योजना के बारे में अधिकारी ने कहा, "यदि अमेरिका हमारी वाजिब चिंताओं पर गौर नहीं करता और बस भारत की ही लाइन पर आगे बढ़ता है तो हम निश्चित तौर पर चीन और रूस की ओर चले जाएंगे." 'फॉरेन पॉलिसी' पत्रिका में छपी एक रिपोर्ट में दावा किया गया कि ट्रंप पाकिस्तान को दी जाने वाली सभी सैन्य मदद खत्म करने पर विचार कर रहे हैं क्योंकि उनका मानना है कि 'इस्लामाबाद वॉशिंगटन के साथ धोखाधड़ी कर रहा है.' वहीं पाकिस्तानी अधिकारियों का मानना है कि अमेरिका का रुख हमें दबाव में रखने पर केंद्रित दिखाई देता है
पुलिस ने स्पेन हमलों के तीन संदिग्ध आतंकियों के नाम जारी किए
19 Aug 2017
बार्सिलोना : पुलिस ने स्पेन आतंकी हमलों में मोरक्को के तीन संदिग्धों के नाम जारी किए हैं. कातालोनिया की पुलिस ने उनकी पहचान मूसा कबीर (17), सईद आला (18) और मोहम्मद हयकामी (24) के तौर पर की है. पुलिस चौथे संदिग्ध यूनस अबू याकूब (22) की तलाश कर रही है. स्पेन में वाहनों को हथियार की तरह इस्तेमाल करने की दो घटनाओं में पुलिस ने अपनी जांच तेज कर दी है.
14 लोगों की हो गई थी मौत. बार्सिलोना और कैम्ब्रिल्स में हुए इन हमलों में 14 लोगों की मौत हो गई थी और 100 से अधिक लोग घायल हो गए थे. हमले में कई देशों के दर्जनों नागरिक हताहत हुए हैं. कातालोनिया पुलिस के जोसेप लुईस ट्रेपरो ने शुक्रवार को एक साक्षात्कार में कहा कि पुलिस को हमलों में 12 लोगों के शामिल होने की आशंका है. इनमें से 5 को पुलिस ने कैम्ब्रिल्स में मार गिराया था और चार अन्य को गिरफ्तार कर लिया गया है. उन्होंने कहा कि अन्य 3 संदिग्धों की पहचान की जा चुकी है, लेकिन उन्हें अभी गिरफ्तार नहीं किया गया है. आतंकी संगठन आईएस ने हमले की जिम्मेदारी ली थी

एप्पल के CEO ने नफरत के खिलाफ जंग के लिए 20 लाख डॉलर दान में दिए, ट्रंप की कर चुके हैं आलोचना
18 Aug 2017
सैन फ्रांसिस्को: अमेरिकी बहुराष्ट्रीय कंपनी एप्पल मानवाधिकार संगठनों को 20 लाख डॉलर दान दे रहा है. यह दान एप्पल के सीईओ टिम कुक की नफरत के खिलाफ लड़ाई की प्रतिज्ञा का हिस्सा है. इसी नफरत के कारण पिछले सप्ताहांत वर्जीनिया में श्वेत राष्ट्रवादियों की रैली के दौरान हिंसा भड़की थी. एसोसिएट प्रेस को आंतरिक ज्ञापन प्राप्त हुआ है जिसमें कुक द्वारा कल यह प्रतिज्ञा लेने की बात सामने आई है. ज्ञापन में कुक ने अपने कर्मचारियों को बताया कि वह राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के श्वेत राष्ट्रवादियों और उनका विरोध करने वाले प्रदर्शनकारियों की कार्रवाई के बीच तुलना के प्रयासों से पूरी तरह असहमत हैं. कुक का मानना है कि दोनों के बीच तुलना ''अमेरिकी होने के तौर पर हमारे आदर्शों के विपरीत है.'' इस बयान के बाद से वह शार्लोट्सविले में हुई हिंसा पर ट्रंप की टिप्पणी से दूरी बनाने वाले प्रख्यात सीईओ बन गए हैं. एप्पल सदर्न पॉवर्टी लॉ सेंटर और एंटी-डेफमेशन लीग को क्रमश: दस-दस लाख अमेरिकी डॉलर दान कर रहा है. इसमें इन दोनों संगठनों और अन्य मानवाधिकार संगठनों को कर्मचारियों द्वारा दो के लिए एक आधार पर दिया जाने वाला दान भी शामिल होगा. इसी बीच अमेरिकन एयरलाइन्स के प्रवक्ता मैट मिलर ने बताया कि एयरलाइन्स ग्रेटर शार्लोट्सविले के हैबिटेट फॉर ह्यूमैनिटी को 1,50,000 अमेरिकी डॉलर दान में देगा.
हरकतों से बाज नहीं आ रहा चीन, अब भारत को कहा छोटी मानसिकता वाला देश
17 Aug 2017
नई दिल्ली: डोकलाम को लेकर जारी विवाद के बीच चीनी मीडिया भारत पर निशाना साधने का एक भी मौका नहीं गंवा रहा है. अब चीनी मीडिया ने भारत को छोटी सोच वाला बताया है. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने अपने संपादकीय में लिखा है, 'भारत बहुत छोटी सोच वाला देश है. इसका अंदाजा इस बात से लगता है कि बॉर्डर पर एक सड़क के निर्माण से दो देशों के रणनीतिक हालात बदलाव आ जाएगा. यह सोच भारत की मानसिकता को दर्शाता है.' साथ चीनी अखबार ने ये भी कहा है कि भारत दादागिरी करने की मानसिकता से फैसले ले रहा है. अखबार ने लिखा है, 'भारत कोल्ड वार को बढ़ावा दे रहा है. वह इलाके का दादा बनने की मानसिकता से काम कर रहा है. भारत को इस मानसिकता से बाहर आने की जरूरत है, तभी वह उभरते चीन को दुश्मन के रूप में देखने के बजाय विकास के अवसर के रूप में समझ पाएगा. ग्लोबल टाइम्स ने सफाई देने के लहजे में लिखा है कि भारत को खुली सोच अपनानी चाहिए और दुनिया को खतरों के तौर पर देखने, चुनौती के तौर पर लेना छोड़ देना चाहिए। भारत को छोटे दक्षिणी एशियाई देशों सहित दुनिया को लेकर अपनी सोच पर विचार करना चाहिए. भारतीय जवानों पर की पत्थरबाजी: चीन एक तरफ जहां डोकलाम में भारत को आंखें दिखा रहा है तो दूसरी तरफ लद्दाख इलाके में भी घुसपैठ की कोशिश की है. मंगलवार को चीन ने लद्दाख में भारतीय सीमा में घुसने की कोशिश की है. सुबह करीब 11 बजे चीन के सैनिक पांच छह गाड़ियां लेकर आए और उसे अपने इलाके में खड़ी कर पैदल पैदल भारतीय इलाके में घुस आए. जिस जगह से चीनी सैनिक भारत में दाखिल हुए वह पेंगोंग झील का इलाका है. चीनी सैनिकों की इस हरकत को देखकर वहां तैनात आईटीबीपी के जवानों ने ह्यूमन चैन बना लिया और उन्हें रोकने लगे. इस दौरान देशों के सैनिकों के बीच हाथापाई भी हुई. यह विवाद आधे घंटे तक चला सेना से जुड़े सूत्रों के मुताबिक भारतीय फौज के विरोध के बाद चीनी सैनिक अपनी सीमा में लौट गए और वहीं से पत्थर फेंकने लगे. चीनी सैनिकों की ओर से फेंके गए पत्थर से आईटीबीपी के कुछ जवानों को चोटें आई हैं. चीनी सैनिकों लोहे का रॉड लेकर भी आये थे. 'भारतीय सेना ने क्रॉस किया बॉर्डर': दो दिन पहले चीनी मीडियो ने आरोप लगाया था कि भारतीय फौज उसकी सीमा में घुस आए हैं. चीन के सरकारी अखबार पीपुल्स डेली में छपी खबर में आरोप लगाया गया है कि भारतीय फौज ने सीमा का गलत आकलन (Miscalculation) किया. इस गलती के लिए भारत को इसके लिए शर्मिंदगी झेलनी पड़ेगी. यहां गौर करने वाली बात यह है कि सिक्किम के डोकलाम में भारत और चीन के बीच करीब दो महीने से सीमा विवाद तनावपूर्ण स्थिति में पहुंच गया है. डोकलाम पर भारत-चीन फ्लैग लेवल की मीटिंग बेनतीजा: डोकलाम विवाद को सुलझाने के लिए 11 अगस्त को भारतीय और चीन के सेना के बीच मेजर जनरल स्तर पर नाथूला में फ्लैग लेवल मीटिंग हुई, लेकिन बेनतीजा साबित हुई. सूत्रों का कहना है कि चीन इस बात पर जोर डाल रहा है कि भारत डोकलाम से अपने सैनिक हटाए वहीं भारत का कहना है कि चीन जब तक सड़क बनाने का उपकरण नहीं हटाता वो अपनी सेना नहीं हटाएगा. दोनों पक्षों ने फैसला लिया कि अपने अपने हेडक्वाटर को रिपोर्ट करेंगे. पिछले हफ्ते भी ब्रिगेडियर स्तर पर नाथूला में ही दोनों देशों के सेनाओं के बीच बातचीत हुई थी लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला. भारत ने सीमा पर बढ़ाई सैनिकों की संख्या: भारत के सिक्किम से लगे भूटान के डोकलाम में भारत और चीनी सेना के जवान कुछ हफ्तों से नॉन कॉम्बेटिव मोड में आमने-सामने डटे हुए हैं. डोकलाम मुद्दे पर जारी तनातनी के बीच सामरिक तौर पर अहम कदम उठाते हुए भारत ने सिक्किम और अरूणाचल प्रदेश से लगी चीन की सीमा के आसपास के समूचे इलाके में और ज्यादा सैनिकों की तैनाती की है. वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों ने यह जानकारी दी. अधिकारियों ने बताया कि सैनिकों के 'चौकसी के स्तर' को भी बढ़ा दिया गया है. उन्होंने बताया कि डोकलाम पर भारत के खिलाफ चीन के आक्रामक अंदाज के मद्देनजर और गहन विश्लेषण के बाद सिक्किम से लेकर अरूणाचल प्रदेश तक भारत-चीन की करीब 1,400 किलोमीटर लंबी सीमा के पास के इलाकों में सैनिकों की तैनाती बढ़ाने का फैसला किया गया. क्या है डोकलाम विवाद?: इसी साल 16 जून को भारतीय सैनिक डोकलाम इलाके में गश्त पर थी, तभी पता चला कि चीन यहां सड़क बना रहा है. भारतीय सेना ने चीन के सड़क निर्माण के कार्य को रोक दिया. इसी बात से चीन नाराज हो गया और लगातार प्रोपेगेंडा कर रहा है. उसका दावा है कि वह अपनी सीमा में सड़क बना रहा है, ऐसे में भारत को क्या ऐतराज है. हालांकि यह इलाका भूटान का है.
चीन बन रहा दुनिया के लिए आफत, अमेरिका ने कहा- उसकी हरकतें आतंकवाद जैसी
14 Aug 2017
नई दिल्ली: जमीन से लेकर समंदर तक में सीमा को लेकर दुनिया के कई देशों से टकराव ले रहे चीन को अमेरिका ने भविष्य के लिए बड़ा खतरा बताया है. अमेरिका ने चीन की हरकतों की तुलना आतंकवाद तक से कर दी है. अमेरिका के प्रशांत क्षेत्र के सैन्य कमांडर एडमिरल हैरी हैरिस ने कहा कि चीन भविष्य में दुनिया के लिए बड़ा खतरा बनने वाला है. अमेरिकी सैन्य व्यवस्था में प्रशांत क्षेत्र के अंतर्गत ही दक्षिण चीन सागर और उत्तर कोरिया का आता है, जहां पर आने वाले दिनों टकराव की सबसे ज्यादा आशंका है. एडमिरल हैरिस ने कहा कि भविष्य का सबसे बड़ा खतरा आक्रामक और किसी भी तरह से आगे बढ़ने की इच्छा पाले चीन है. लेकिन इस समय का सबसे बड़ा खतरा उत्तर कोरिया है. इसके अतिरिक्त जो बड़ा खतरा अमेरिका सहित दुनिया के ज्यादातर देश झेल रहे हैं वह आतंकवाद है. आईएस और दूसरे आतंकी संगठन अलग-अलग देशों में हमले करके निर्दोष लोगों को मार रहे हैं और संपत्ति को नुकसान पहुंचा रहे हैं. फिलीपींस के मरावी शहर का जिक्र करते हुए एडमिरल हैरिस ने कहा कि हम वहां पर फिलीपींस की सेना का सहयोग कर रहे हैं. जल्द ही शहर पर दोबारा कब्जा पाने की उम्मीद है. मुस्लिम बहुल यह शहर कई महीनों से आतंकियों की गिरफ्त में है और वहां पर सेना और आतंकियों के बीच संघर्ष चल रहा है. भारत के प्रति अमेरिका की नरमी: एडमिरल हैरिस ने कहा, भारतीय सेनाओं को आधुनिक उपकरणों से लैस करके और सैनिकों को प्रशिक्षण देकर अमेरिका उन्हें और प्रभावशाली बना सकता है. दोनों देशों बीच पिछले दशक में 15 अरब डॉलर (एक लाख करोड़ रुपये) रक्षा क्षेत्र का कारोबार हुआ है, जो आने वाले वर्षो में बढ़ने की उम्मीद है. मजबूत भारत से सभी का लाभ है.
शरीफ का दावा, पद से हटाने की 'साजिशें' 3 साल पहले शुरू हुई थीं, फिर बनूंगा प्रधानमंत्री
12 Aug 2017
पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने शुक्रवार को कहा कि उन्हें प्रधानमंत्री पद से हटाने की 'साजिशें' तीन साल पहले ही शुरू हो गई थीं. शरीफ ने उन्हें प्रधानमंत्री पद से अयोग्य ठहराए जाने को 'मजाक' बताया और भरोसा जताया कि वह चौथी बार प्रधानमंत्री निर्वाचित होंगे.
भ्रष्टाचार का एक भी उदाहरण देने में नाकाम रहे पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें अयोग्य ठहराने वाले न्यायाधीश उनके खिलाफ भ्रष्टाचार का एक भी उदाहरण देने में नाकाम रहे. उन्होंने कहा, क्या इसे अयोग्यता कहनी चाहिए? मैं कल फिर जनता द्वारा प्रधानमंत्री बनाया जाऊंगा. गुजरांवाला शहर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए 67 वर्षीय शरीफ ने अपने समर्थकों से उनके साथ सड़कों पर उतरने का संकल्प लेने को कहा ताकि यह सुनिश्चित हो कि पाकिस्तान के निर्वाचित प्रधानमंत्री का और निरादर नहीं किया जाए. '
'मैं गद्दार नहीं, देशभक्त हूं शरीफ ने कहा, मुझे हटाने की साजिशें करीब साढ़े 3 साल पहले शुरू हो गई थीं और अंतत: उन्होंने (सैन्य प्रतिष्ठान और न्यायपालिका) अपमानजनक तरीके से मुझे निष्कासित कर दिया. मैं गद्दार नहीं हूं. मैं देशभक्त पाकिस्तानी हूं.

भारत आएंगी डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका, पीएम मोदी ने भी किया ट्वीट’
11 Aug 2017
वाशिंगटन: भारत और अमेरिका हैदराबाद में 28 नवंबर से वैश्विक उद्यमिता सम्मेलन की सह-मेजबानी करेंगे और अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका करेंगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसकी घोषणा की. उन्होंने कहा कि तीन दिवसीय सम्मेलन का उद्देश्य दोनों देशों के उद्यमियों को एक साथ लाना है. पीएम मोदी ने ट्वीट किया कि यह सम्मेलन उद्यमियों को एकसाथ लाने का अद्वितीय अवसर है. उन्होंने कहा कि वह अमेरिकी प्रतिनिधमंडल के नेता के रूप में जीईएस 2017 हैदराबाद में इवांका ट्रंप की उपस्थिति को लेकर आशांन्वित हैं. यह सम्मेलन नीति आयोग द्वारा विदेश मंत्रालय के समन्वय से आयोजित किया जा रहा है. डोनाल्ड ट्रंप ने भी ट्वीट किया, दुनियाभर की महिला उद्यमियों का समर्थन करने के लिए इस बार पतझड़ में इवांका ट्रंप भारत जा रहे अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगी. इस ट्वीट में ट्रंप ने PM मोदी के ट्विटर हैंडल को भी मार्क किया. डोनाल्ड ट्रंप के ट्वीट से पहले इवांका ने एक ट्वीट में लिखा, GES2017 में भाग लेने जा रहे अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करने का सम्मान मिला है. मैं इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दुनियाभर के उद्यमियों से भी मिलूंगी. जब पीएम मोदी अमेरिका गए थे तो उन्होंने इवांका को भारत आने का न्यौता दिया था. पीएम मोदी अमेरिका और भारत के संबंधों को और बेहतर बनाने के लिए लगातार काम कर रहे हैं.
चीन ने किया दावा, डोकलाम में अब भी 53 भारतीय सैनिक मौजूद’
10 Aug 2017
बीजिंग: डोकलाम में सीमा विवाद के बीच दोनों ओर की सेनाओं के जवान 16 जून से आने सामने डटे हुए हैं. चीनी विदेश मंत्रालय के हवाले से एक सरकारी अखबार में कहा गया कि डोकलाम इलाके में भारत के 53 सैनिक और एक बुलडोजर मौजूद है. ग्लोबल टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, मंत्रालय ने भारत से ‘‘चीनी क्षेत्र’’ से अपने सैनिक और उपकरण हटाने को कहा है. मंत्रालय के हवाले से दैनिक ने कहा है कि सोमवार तक भारत की तरफ से 53 लोग और एक बुलडोजर ‘‘चीनी क्षेत्र’’ में बने हुए थे. मंत्रालय के हवाले से अखबार कहता है, ‘‘भारत को अपने सैनिक और उपकरण हटाने चाहिए. उन्होंने चीनी संप्रभुता का गंभीर रूप से उल्लंघन किया है.’’ चीनी विदेश मंत्राल