दिल्ली डाइजेस्ट Slideshow Image Script
पाठकों की पसंद
अमिताभ को काफी पसंद आया 'किक' का ट्रेलर
हिंदुत्व को परिभाषित नहीं किया जा सकता
दिल्ली यूनिवर्सिटी और यूजीसी विवाद : दाखिले की प्रक्रिया टली
रेल पर NDA के कुनबे में रार, उद्धव का जेटली को फोन
कैमरून के खिलाफ ब्राजील का यह प्रदर्शन सर्वश्रेष्ठ: नेमार
शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 155 अंक मजबूत, रुपये में तेजी
इराक:भारतीय बंधक का दिल का दौरा पड़ने से निधन
मनमोहन को छूट पर अमेरिकी सरकार से जवाब-तलब
इराक के अस्तित्व पर मंडरा रहा खतरा : केरी
हज यात्रियों के लिए सहूलियतें बढ़ाने पर सुषमा का जोर


BS-6 पेट्रोल-डीजल गाड़ियों से 80% पॉल्यूशन कम करेगा, इससे होंगे 5 फायदे
16 November 2017
नई दिल्ली.पेट्रोलियम मंत्रालय ने दिल्ली में पेट्रोल-डीजल से होने वाले पॉल्यूशन को कम करने के लिए फैसला लिया है। इसके तहत बीएस-6 फ्यूल की बिक्री अप्रैल 2018 से शुरू की जाएगी। दावा है कि बीएस-6 फ्यूल से गाड़ियों से होने वाला पॉल्यूशन 80% तक कम हो जाएगा। इससे पहले बीएस-6 को 2020 में लाने का फैसला लिया गया था। मंत्रालय ने ये भी कहा, दिल्ली में बीते एक-दो सालों में बढ़ी स्मॉग और पॉल्यूशन की समस्या से निपटने के लिए ये फैसला लिया गया है।
बीएस-6 फ्यूल से फायदे
1. फ्यूल जलने से निकलने वाले हाइड्रोकॉर्बन से सिर दर्द की शिकायत होती है। बीएस-6 ईंधन इसके असर को 30% कम कर देगा। 2. बीएस-6, 70% कार्बन मोनो ऑक्साइड को कम कर देगा। इस गैस से ही सरदर्द और उल्टी की शिकायत होती है। 3. 50% असर कम हो जाएगा बीएस-6 फ्यूल से पार्टिकुलेट मैटर का। इससे फेफड़ों को नुकसान पहुंचता है। 4. नए नॉर्म्स में बीएस-6 को सबसे प्योर फ्यूल माना गया है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, वाहनों में इसके इस्तेमाल से पॉल्यूशन में कमी आएगी। 5. नाइट्रोजन से खांसी होती है, आंखों पर असर होता है। बीएस-6 ईंधन के इस्तेमाल से यह असर 70% तक कम हो जाएगा। भारत स्टेज (बीएस)-6 वो सब कुछ जो आप जानना चाहते है - व्हीकल्स में फ्यूल से होने वाले पॉल्यूशन को कंट्रोल करने के लिए एक स्टैंडर्ड तय किया जाता है। इसे एमिशन नॉर्म्स कहते हैं। - बीएस का मतलब है-भारत स्टेज (जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी में बदलाव आता है एक्सपेरिमेंट्स के जरिए पॉल्यूशन कम करने के तरीके तलाशे जाते हैं, जिसके साथ इमिशन नॉर्म्स भी बदलते हैं) - 1 अप्रैल 2017 से भारत में बीएस-4 नॉर्म्स लागू किए गए। इसके बाद देश में बीएस-5 को छोड़कर सीधे बीएस-6 स्टैंडर्ड लागू होने हैं। - केंद्र सरकार ने इसके लिए 2020 की समय सीमा तय की थी, लेकिन दिल्ली में अब बीएस-6 स्टैंडर्ड का फ्यूल 2 साल पहले ही मिलने लगेगा। - इन नॉर्म्स के तहत व्हीकल्स तैयार करना हर कंपनी के लिए जरूरी होता है, ताकि इससे एयर पॉल्यूशन कम किया जा सके। नए स्टैंडर्ड के तहत फ्यूल भी बदला जाता है। दिल्ली में अभी केवल फ्यूल नए नॉॅर्म्स के हिसाब सेमिलेगा, गाड़ियों पर यह नॉर्म्स अभी लागू नहीं होंगे। - कंपनियों से 1 अप्रैल 2019 तक एनसीआर के अन्य शहरों में भी बीएस-6 ग्रेड के फ्यूल को बेचने की संभावनाएं तलाशने के लिए कहा गया है। इससे दिल्ली और आसपास के शहरों में पॉल्यूशन की समस्या से निजात पाने में मदद मिलेगी। Q&A में जानें- गाड़ियों से निकलने वाले कार्बन की मात्रा घटेगी एक्सपर्ट्स: आशीष जैन, डायरेक्टर इंडियन पॉल्यूशन कंट्रोल एसोसिएशन और उस्मान नसीम, सी. रिसर्च असोसिएट, सीएसई Q. बीएस-4 गाड़ियों में बीएस-6 फ्यूल का इस्तेमाल करने पर यह कितना असरकारी होगा? A. बीएस-4 नॉर्म्स की गाड़ियों में बीएस-6 नॉर्म्स का पेट्रोल-डीजल जाएगा, तो हवा में वाहनों से निकलने वाली टॉक्सिक गैसें कम निकलेंगी। Q. गाड़ियों में बीएस-6 नॉर्म्स का क्या होगा? A. कई विदेशी कंपनियों न बीएस-6 नार्म्स की गाड़ियों की मैन्यूफैक्चरिंग भी शुरू कर दी है, पर ऑटो इंडस्ट्री स जुड़े स्पेशलिस्ट के मुताबिक, भारत में गाड़ियों के लिए 2020 में यह नॉर्म्स लागू होना है। इंडस्ट्री इसी लिहाज से काम कर रही है। अब दिल्ली में नए नॉर्म्स के हिसाब से अभी गाड़ी उतारना संभव नहीं है। Q. पॉल्यूशन घटाने में कैसे मददगार है? A. पीएम 2.5 की वैल्यू 400 एमजीसीएम जाती है तो उसमें 120 एमजीसीएम से ज्यादा का कॉन्ट्रिब्यूशन वाहनों से होने वाले पॉल्यूटेड पार्टिकल्स से होता है। बीएस-6 फ्यूल के आने से पार्टिकुलेट मैटर में इनकी 20 से 40 एमजीसीएम तक ही हिस्सेदारी रहेगी। Q. नया फ्यूल कितना महंगा पड़ेगा? A.2020 की डेडलाइन के मुताबिक, ज्यादा स्वच्छ पेट्रोल-डीजल बनान के लिए ऑयल रिफाइनरियों को 28,000 करोड़ रुपए निवेश करने की जरूरत होगी। हालांकि फ्यूल महंगा होगा या नहीं, यह उस वक्त क्रूड की कीमत समेत अन्य फैक्टर्स पर निर्भर करेगा।


ऑफिस में घुसकर दागी गोलियां, दिल्ली के बिल्डर की साहिबाबाद में हत्या
10 November 2017
गाजियाबाद. साहिबाबाद के शालीमार गार्डन एक्सटेंशन में बदमाशों ने गुरुवार को एक बिल्डर की गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस प्राॅपर्टी विवाद का मामला बता रही है। इस घटना के बाद चौकी इंचार्ज काे निलंबित कर दिया गया। दिल्ली के विवेक विहार में रहने वाले एसपी सिंह का शालीमार गार्डन एक्सटेंशन 1 में एकता बिल्डर नाम से ऑफिस था। वह गुरुवार शाम को ऑफिस में थे, तभी 2 बाइकों पर सवार होकर चार बदमाश पहुंचे और उन पर गोलियां चला दीं। बिल्डर ने जवाब में अपनी लाइसेंसी बंदूक से गोली चलाई। इसके बाद बदमाश बाहर आए और दहशत फैलाने के लिए बिल्डर की फॉर्च्यूनर पर गोलियां चलाईं और फरार हो गए। पुलिस को जांच में 12 खाली कारतूस मिले हैं। दोनों ओर से 20 से 25 राउंड गोलियां चली हैं।
10 दिन पहले ऑफिस गार्ड की बंदूक छीनकर की थी फायरिंग
बिल्डर पर पहले भी दो बार फायरिंग हो चुकी है। 10 दिन पहले ऑफिस में तैनात गार्ड की बंदूक छीनकर बदमाशों ने फायरिंग की थी। करीब 2 महीने पहले भी उन पर हमला किया गया था। एसएसपी एचएन सिंह ने बताया कि पसौंडा में एक प्लॉट को लेकर बिल्डर का कुछ लोगों से विवाद चल रहा था। आशंका जताई जा रही है कि दूसरे पक्ष के लोगों ने इसी प्लॉट की वजह से हत्या कराई है। हालांकि पुलिस अभी मामले की जांच कर रही है।
चौकी प्रभारी निलंबित
एसएसपी एचएन सिंह ने लापरवाही बरतने के आरोप में शालीमार गार्डन चौकी इंचार्ज पवेंद्र चौहान को निलंबित कर दिया है। साथ ही, साहिबाबाद थाने के पूर्व प्रभारी सुधीर त्यागी के खिलाफ जांच बैठा दी गई है। प्लॉट को लेकर थाना प्रभारी की भूमिका संदिग्ध मानी जा रही है।


दिल्ली में छिन रहा जीने का हक, हेलिकॉप्टर से बारिश क्यों नहीं कराते: NGT
9 November 2017
नई दिल्ली. दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते पॉल्यूशन को लेकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने दिल्ली सरकार, म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशंस और पड़ोसी राज्यों को फटकार लगाई। कहा- यह स्मॉग जीने का हक छीन रहा है। हेलिकॉप्टर से क्लाउड सीडिंग करके आर्टिफीशियल बारिश क्यों नहीं करवाते? अगर ऐसे ही हालात बने रहे तो लोग हॉस्पिटल में नजर आएंगे। इसके साथ ही ट्रिब्यूनल ने अपने अगले आदेश तक यहां सभी तरह की इंडस्ट्रियल एक्टिविटीज पर रोक लगा दी है। ट्रिब्यूनल को ये तल्ख कमेंट्स इसलिए करने पड़े क्योंकि यहां पॉल्यूशन का लेवल लगातार सीवियर कैटेगरी में बना हुआ है। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सुबह पंजाबी बाग में एयर क्वालिटी इंडेक्स 799 रिकॉर्ड किया गया। लोधी रोड पर पीएम-10 और पीएम 2.5 दोनों ही 500 रिकॉर्ड किए गए। यह सीवियर कैटेगरी है। स्कूलों में रविवार तक की छुट्टी कर दी गई है।
क्या कहा NGT ने?
- "पॉल्यूशन मामले में सारी कॉन्स्टिट्यूशनल अथॉरिटीज और उनसे जुड़ी बॉडीज बुरी तरह फेल रहीं। यह जिम्मेदारी सभी की बनती है।" - "ये सभी पार्टियों के लिए शर्मनाक है कि आप आने वाली पीढ़ी को क्‍या दे रहे हैं। यहां तक की खुले में हो रहा - "एनजीटी ने दिल्ली से सटे दूसरे राज्यों जैसे- पंजाब, हरियाणा को भी फटकार लगाई। पूछा कि ऐसे बदतर हालात में वो कितने संजीदा हैं।" - "कॉन्स्टीट्यूशन का आर्टिकल 21 और 48 के तहत सरकार की यह जिम्मेदारी है कि वह लोगों को साफ और सही एनवॉयर्नमेंट मुहैया कराए।" - "सीपीसीबी (सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड) की रिपोर्ट बताती है कि दिल्ली-एनसीआर में हवा खतरनाक हो गई है। पीएम 10 का लेवल 100 तक होना चाहिए, जो कल (बुधवार) को 986 हो गया। वहीं, पीएम 2.5 का लेवल 60 होना चाहिए, हो गया 420। ये हालत पिछले हफ्ते से बने हुए हैं।"
ये भी कहा
- "दिल्ली सरकार ने पॉल्यूशन से निपटने के लिए क्या कदम उठाए? नियमों के खिलाफ जाने वाले कितने लोगों को चालान जारी किए गए? कितनी कंस्ट्रक्शन साइट्स बंद की गईं? हैलिकॉप्टर का इस्तेमाल करके आर्टिफीशियल बारिश क्यों नहीं कराई जाती?" - "जहां पीएम 10 का लेवल 600 माइक्रोग्राम तक पहुंचे वहां पानी का छिड़काव करें।" "अगली सुनवाई तक दिल्ली में कोई भी इंडस्ट्रियल एक्टिविटीज नहीं होगी। सभी पब्लिक अथॉरिटी पॉल्यूशन पर नजर रखने के लिए एक-एक ऑफिसर तैनात करें।" - "सभी संबंधित राज्यों के पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड सभी पैरामीटर्स पर नजर रखें और एनजीटी को इसकी जानकारी दें।" - "10 साल पुराने डीजल व्हीकल्स और 15 साल पुराने पेट्रोल व्हीकल्स की दिल्ली में एंट्री पर बैन लगाया जाना चाहिए। दिल्ली में ट्रक से कंस्ट्रक्शन मटेरियल लाने पर भी रोक लगाएं।" - "मामले की अगली सुनवाई 14 नवंबर को होगी, तब सभी संबंधित अथॉरिटी और पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड स्टेटस रिपोर्ट पेश करें।"
HC ने 3 दिन में इमरजेंसी मीटिंग बुलाने को कहा
- दिल्ली हाईकोर्ट ने राजधानी और उसके आसपास बढ़ रहे पॉल्यूशन को लेकर इमरजेंसी मीटिंग बुलाने का निर्देश दिया है। - कोर्ट ने सेंट्रल फॉरेस्ट एंड एनवॉर्नमेंट मिनिस्ट्री के सेक्रेटरी को दिल्ली और एनसीआर के सभी राज्यों के चीफ सेक्रेटरीज के साथ 3 दिन में इमरजेंसी मीटिंग करने को कहा है। - कोर्ट ने इसके लिए क्लाउड सीडिंग (आर्टीफीशियल बारिश) पर भी विचार करने को कहा है। - हाईकोर्ट ने इस मीटिंग में पॉल्यूशन कंट्रोल करने के उपाय तलाशने को कहा है। साथ ही दिल्ली सरकार से गाड़ियों के लिए ऑड ईवन फॉर्मूला लागू करने पर विचार करने को कहा है। सरकार से फौरन सड़कों की धुलाई करने को भी कहा गया है, ताकि धूल से होने वाले पॉल्यूशन को कम किया जा सके।
ऑड-ईवन पर फैसला आज या कल
- सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली में ऑड-ईवन सिस्टम पर फैसला आज या कल हो सकता है। - उन्होंने एक प्रोग्राम में कहा कि पॉल्यूशन के मसले पर राजनीति दूर रखकर हम सभी को सोचना चाहिए। ये हमारे बच्चों के फ्यूचर का सवाल है। - उन्होंने कहा कि दिल्ली ही नहीं पूरा उत्तर भारत गैस चैंबर बना हुआ है। - केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने पॉल्यूशन पर चर्चा के लिए पंजाब और हरियाणा के सीएम से मिलने का वक्त मांगा था, लेकिन अभी तक उनका जवाब नहीं आया।
दिल्ली गैस चेम्बर बन गई: केजरीवाल, स्कूलों की छुट्टी करने को कहा
ईवन नंबर: इसका मतलब है कि जिन गाड़ियों के आखिरी नंबर में 0, 2, 4, 6, 8 जैसे डिजिट होंगे। ऑड नंबर: इसका मतलब जिन गाड़ियों के आखिरी नंबर में 1, 3, 5, 7, 9 जैसे डिजिट होंगे। - तय दिनों पर एक दिन ऑड और एक दिन ईवन की नंबर की गाड़ियों पर ही सड़कों पर चलाने की इजाजत होगी। इमरजेंसी सर्विसेस या वीवीआईपी गाड़ियों को इससे छूट दी जाएगी। - केजरीवाल सरकार ने 2016 के जनवरी और अप्रैल महीने में 15-15 दिन के लिए ऑड-ईवन स्कीम लागू की थी। इससे सड़कों पर ट्रैफिक का दबाव कम हुआ था। - ऑड-ईवन को तब लागू किया जा सकता है, जबकि पॉल्यूशन लेवल 48 घंटे या इससे ज्यादा वक्त के लिए इमरजेंसी लेवल को पार कर जाए।
सुबह का एयर क्वालिटी इंडेक्स
पंजाबी बाग: 799 द्वारका: 388 शादीपुर: 362 आनंद विहार: 515
भारत में पॉल्यूशन से हर साल 25 लाख लोगों की मौत
- मेडिकल जर्नल लैंसेट के मुताबिक, भारत में हर साल 25 लाख लोगों की मौत पॉल्यूशन की वजह से होती है। - दिल्ली में करीब 44 लाख बच्चे स्कूल जाते हैं। इनमें आधे बच्चों को दिल की बीमारी का खतरा है। - डब्लयूएचओ के मुताबिक, भारत में पिछले 5 साल में बाहरी हवा 8 गुना खराब हुई है। - एशिया में ईरान के जबोल में पीएम-2.5 का एवरेज लेवल सबसे ज्यादा 217 है।


दिल्ली में स्मॉग: 20 फ्लाइट्स पर असर; केजरी ने स्कूल बंद करने को कहा
7 November 2017
नई दिल्ली. दिल्ली में दो दिन से पॉल्यूशन का लेवल नॉर्मल से तीन गुना ज्यादा हो गया है। मंगलवार को भी राजधानी में स्मॉग देखा गया। इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर विजिबिलिटी कम हो गई। इस वजह से 20 से ज्यादा फ्लाइट्स पर असर पड़ा। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने इसे लेकर दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया को लेटर लिखा। इसमें सुबह के वक्त स्कूलों में आउटडोर एक्टिविटी पूरी तरह से बंद करने की अपील की गई है। IMA ने कहा- स्कूलों को तुरंत बंद किया जाना चाहिए। जब तक जरूरी न हो, घरों के बाहर न निकलें। बता दें कि स्मॉग धुएं और कोहरे का मिक्सचर होता है
दिल्ली गैस चेम्बर बन गई: केजरीवाल, स्कूलों की छुट्टी करने को कहा
- सीएम अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा- "दिल्ली गैस चेम्बर बन गई है। इस मौसम में यह हर साल होता है। हमें आसपास के राज्यों में फसलों के जलाने से रोकने के लिए बात करेंगे, ताकि इसका समाधान खोजा जा सके। पॉल्यूशन के बढ़ते लेवल को देखते हुए मैंने शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया से कहा है कि वे कुछ दिन स्कूल बंद रखें।" - उधर, स्मॉग से निबटने के लिए एन्वायरन्मेंट मिनिस्ट्री ने इस मसले पर एक मीटिंग बुलाई है।
सरकारों ने पहले ही जरूरी कदम क्यों नहीं उठाए: NGT.
- नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते पॉल्यूशन लेवल को लेकर दिल्ली, यूपी और हरियाणा सरकार को फटकार लगाई। एनजीटी के चेयरमैन जस्टिस स्वतंत्र कुमार पूछा कि एयर क्वालिटी खराब होने से रोकने के लिए तीनों राज्यों की सरकारों ने पहले ही जरूरी कदम क्यों नहीं उठाए ? - बेंच ने कहा, ''हवा का स्तर बहुत खराब होता जा रहा है, इससे बच्चे सांस नहीं ले पा रहे हैं। हमारे ऑर्डर के मुताबिक, हेलिकॉप्टर से पानी का छिड़काव क्यों नहीं किया गया? कल तक जरूरी डायरेक्शन को लेकर सरकारें रिपोर्ट दाखिल करें।
सीआईएसएफ ने जवानों के लिए 9000 मास्क दिए.
- दिल्ली में पॉल्यूशन के बढ़ते लेवल को देखते हुए सीआईएसएफ ने आईजीआई एयरपोर्ट, दिल्ली मेट्रो, मंत्रालयों और दूसरे संस्थानों में तैनात अपने जवानों के लिए 9000 मास्क जारी करने के आदेश दिए हैं। सीआईएसएफ के डायरेक्टर जनरल (डीजी) ओपी सिंह ने कहा- "2000 प्रोटेक्टिव फेस मास्क जारी कर दिए गए हैं। वहीं, शेष 7000 मास्क को कुछ घंटों में भेज दिए जाएंगे।
इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने कहा- दौड़ना तो दूर लोग बाहर पैदल तक न चलें.
- इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) के प्रेसिडेंट डॉ. केके अग्रवाल के मुताबिक, "हमने दिल्ली के लिए हेल्थ इमरजेंसी डिक्लेयर की है। पॉल्यूशन का लेवल कम नहीं आ जाता, लोगों को दौड़ना तो दूर वॉक भी नहीं करना चाहिए। इससे हार्ट डिसीज और अचानक मौत का खतरा हो सकता है। स्कूलों को तुरंत बंद करना चाहिए। बच्चों को नुकसान हो सकता है। जरूरी न हो तो लोग घरों से बाहर न निकलें।" - सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड (CBCB) ने एयर क्वालिटी को सीवियर (खतरनाक) करार दिया है। इससे पहले 20 अक्टूबर (दिवाली के दूसरे दिन) को भी दिल्ली में एयर क्वालिटी को सीवियर घोषित किया गया था। - दिल्ली के 14 एयर मॉनिटरिंग स्टेशन पर एयर क्वालिटी बहुत खराब है। यहां एयर क्वालिटी इंडेक्स 300 है, जबकि 100 को नॉर्मल माना जाता है।
स्मॉग का कैसे पड़ता है बच्चों पर असर.
- डॉ. केके अग्रवाल ने लिखा- "बच्चे जब शारीरिक परिश्रम करते हैं, तो उन्हें ज्यादा ऑक्सीजन की जरूरत होती है। ऐसे में, सांस के साथ पॉल्यूशन की बड़ी मात्रा बच्चों के शरीर में जाती है। यह बच्चों के फेफड़ों में ग्रोथ का वक्त होता है, पर पॉल्यूशन से फेफड़ों के विकास पर असर पड़ता है और भविष्य में उन्हें नुकसान उठाना पड़ सकता है।" - "रेडियो, टेलीविजन के अलावा सोशल मीडिया से भी प्रचार-प्रसार किया जाना चाहिए कि मॉर्निंग वॉक से बचें। स्मॉग की वजह से तब एक सामान्य आदमी को भी सांस लेने में दिक्कत होगी। इसलिए हृदय और अस्थमा के मरीजों के अलावा बुजुर्ग और बच्चों को कम से कम घर से बाहर निकलना चाहिए।"
नाइट्रोजन ऑक्साइड का लेवल साढ़े सात गुना बढ़ा.
- दिल्ली में सर्दियां शुरू होने के बाद इस सीजन में पहली बार नाइट्रोजन ऑक्साइड जैसे बेहद खतरनाक पॉल्यूशन पार्टिकल्स का लेवल साढ़े सात गुना तक बढ़ गया है। रविवार रात डेढ़ बजे नाइट्रोजन ऑक्साइड का स्तर 600 एमजीसीएम तक पहुंच गया। इसका नॉर्मल लेवल 80 एमजीसीएम होता है। वहीं, सोमवार को आनंद विहार और आरकेपुरम में इसका लेवल 120 से ज्यादा दर्ज हुआ। आरकेपुरम में शाम छह बजे नाइट्रोजन डाइऑक्साइड का लेवल 170 एमजीसीएम दर्ज हुआ। - 20 में से 12 पॉल्यूशन मॉनिटरिंग स्टेशनों में पीएम 2.5 का स्तर 150 से ज्यादा दर्ज हो रहा है।
गाड़ियों केपॉल्यूशनपार्टिकलहोते हैं नाइट्रोजन ऑक्साइड.
- एक्सपर्ट्स का कहना है कि नाइट्रोजन ऑक्साइड गाड़ियों से निकलने वाले प्रदूषित कण होते हैं। इनका स्तर सुबह, शाम और रात में ज्यादा हो रहा है। इस वजह से तापमान कम होना शुरू हो गया है, जिससे ये ऊपर न उठकर पृथ्वी के करीब ही रह जाते हैं। - सोमवार को शहर के 17 पॉल्यूशन मॉनिटरिंग स्टेशनों में पीएम 2.5 और पीएम 10 की एयर क्वालिटी इंडेक्स में 24 घंटे की वैल्यू 354 दर्ज हुई। यह और बढ़ने की आशंका है।
आंखों में जलन बच्चों के लिए खतरनाक.
- इंडियन एसोसिएशन फॉर एयर पॉल्यूशन कंट्रोल के जनरल सेक्रेटरी श्याम कृष्ण गुप्ता का कहना है कि गाड़ियों के प्रदूषण से पीएम 2.5 और पीएम 10 के स्तर में 50% तक बढ़ोत्तरी हो रही है। नाइट्रोजन ऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड का स्तर ज्यादा दर्ज हो रहा है। इससे आंखों में जलन होने लगती हैं। यह फेफड़ों की कोशिकाओं पर भी असर डालता है। इससे दिल की धमनियों पर भी असर पड़ सकता है। ऐसे में बच्चों को आउटडोर एक्टिविटी में कम से कम हिस्सा लेना चाहिए।
धुंध और धूल के पार्टिकल्स बढ़ा रहे हैं पॉल्यूशन लेवल.
- 12 पॉल्यूशन मॉनिटरिंग स्टेशनों में पीएम 2.5 का स्तर 150 से ज्यादा दर्ज हो रहा है। स्काइमेट के मौसम वैज्ञानिक महेश पलावत ने बताया कि पहले 12 किमी प्रतिघंटा से ज्यादा तेज हवा चल रही थी। सोमवार से यह 3 किमी रही। इससे दिल्ली में पीएम 2.5 और पीएम-10 जैसे प्रदूषित कणों के साथ गाड़ियों से निकलने वाले प्रदूषित कणों में भी इजाफा हो रहा है। सुबह के वक्त धुंध के साथ धूल के कण मिलकर पॉल्यूशन को बढ़ा रहे हैं।


आसान तकनीक से भारत में बनते हैं अचार-मुरब्बे, पापड़: वर्ल्ड फूड इंडिया में मोदी
3 November 2017
नई दिल्ली.नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को विज्ञान भवन में वर्ल्ड फूड इंडिया 2017 का इनॉगरेशन किया। इसमें मोदी ने कहा- "भारत की ताकत उसका एग्रीकल्चर है। इसमें विविधता भी है। हमारे यहां कई तरह की फसलें होती हैं। भारत में गेहूं, चावल, केला, पपीता और कई सब्जियां पैदा होती हैं। फूड प्रॉसेसिंग भारत में जीवन जीने का तरीका है। साधारण घरेलू तकनीक से हमारे यहां अचार-मुरब्बे, पापड़ और चटनियां बनाई जाती हैं।" इसमें ग्लोबल इन्वेस्टर्स समेत बड़ी फूड कंपनियों के चीफ हिस्सा ले रहे हैं। इसका आयोजन फूड प्रॉसेसिंग मिनिस्ट्री की ओर से किया गया है। तीन दिन चलने वाले इस मेले का मकसद फूड इकोनॉमी में बदलाव लाना और भारत को ग्लोबल फूड प्रॉसेसिंग इंडस्ट्री का सोर्सिंग हब बनाकर किसानों की इनकम को दोगुना करना है। इस मेले में 800 किलो खिचड़ी पकाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने की कोशिश भी की जाएगी। और क्या कहा मोदी ने... - नरेंद्र मोदी ने कहा- "भारत आज दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाली इकोनॉमी है। जीएसटी ने विकास के नए रास्ते खोले हैं और कई टैक्सों को खत्म किया है। प्राइवेट सेक्टर की भागीदारी बढ़ी है। अब कॉन्टैक्ट फार्मिंग भी हो रही है।" - "वर्ल्ड बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में भारत ने इस साल 30 पायदान की छलांग लगाई है।"
संजीव कपूर बनाएंगे खिचड़ी.
इवेंट के अगले दिन 4 नवंबर को संजीव कपूर सात फीट चौड़ी और एक हजार लीटर कैपिसिटी वाली कड़ाही में यह खिचड़ी बनाएंगे।
यह खिचड़ी अनाथ और गरीब बच्चों को बांटी जाएगी।.
यह भारत की खिचड़ी को इंटरनेशनल लेवल पर मशहूर करने की कोशिश है। पहले सोशल मीडिया पर खबरें थीं कि इस आयोजन में खिचड़ी को नेशनल फूड भी डिक्लेयर किया जाएगा।
मंत्री को देनी पड़ी सफाई.
खिचड़ी को नेशनल फूड डिक्लेयर किए जाने की खबरें आने के बाद फूड प्रॉसेसिंग मिनिस्टर हरसिमरत कौर को सफाई देनी पड़ी थी। उन्होंने ट्वीट किया- नेशनल फूड पर खूब खिचड़ी पकी, यह सब वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज कराने की कोशिश है।
उमर अब्दुल्ला ने भी जताई थी हैरानी.
खिचड़ी को नेशनल फूड डिक्लेयर किए जाने की खबर पर जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने हैरानी जताई थी। उन्होंने ट्वीट किया, "तो क्या जब भी हम किसी को खिचड़ी खाते हुए देखें, हमें हर बार खड़ा होना पड़ेगा? क्या फिल्म देखने से पहले इसे खाना जरूरी है?"
65 हजार करोड़ का मेगा इवेंट है वर्ल्ड फूड इंडिया.
इस इवेंट पर 65 हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे। केंद्र का दावा है कि इस इन्वेस्टमेंट से 10 लाख रोजगार पैदा होंगे। देश के 28 राज्य इस इवेंट के पार्टनर बनने वाले हैं। 50 ग्लोबल कंपनियों के सीईओ इवेंट में शिरकत करेंगे।


नेशनल डिश नहीं बनेगी खिचड़ी, यह सिर्फ रिकॉर्ड के लिए: मंत्री की सफाई
2 November 2017
नई दिल्ली. खिचड़ी नेशनल फूड नहीं बनेगी, बल्कि यह कोशिश वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज कराने के लिए की जा रही है। मोदी सरकार में फूड प्रॉसेसिंग मिनिस्टर हरसिमरत कौर बादल ने ट्वीट करके यह सफाई दी है। दिल्ली में 3 से 5 नवंबर तक वर्ल्ड फूड इंडिया का आयोजन होना है। इसमें 800 किलो खिचड़ी बनाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने की भी कोशिश होगी। बता दें कि पहले खबर थी कि खिचड़ी को देश के नेशनल फूड का दर्जा मिलने वाला है। फूड प्रोसेसिंग मिनिस्ट्री ने केंद्र सरकार को इसके लिए प्रपोजल भेजा है। मिनिस्ट्री ने खिचड़ी के पक्ष में 3 तर्क भी दिए थे, जिनसे केंद्र सहमत है। - खबरों में कहा गया था कि इंडियन कुजीन का दर्जा खिचड़ी को ‘गुड फूड’ मानकर दिया जा रहा है। 800 किलो खिचड़ी बनाने के लिए 1000 लीटर क्षमता और 7 फीट व्यास वाला बर्तन चूल्हे पर चढ़ेगा।
पूरी खिचड़ी अनाथ बच्चों में बांटी जाएगी।.
- इस पर हरसिमरत कौर बादल ने अपने ट्वीट में लिखा, "काल्पनिक नेशनल फूड पर खूब खिचड़ी पक चुकी, यह सिर्फ रिकॉर्ड दर्ज करने के लिए है।"
कपूर इस इवेंट के ब्रांड एम्बेस्डर होंगे।
- ऑफिशियली किसी भी डिश (व्यंजन) को नेशनल फूड घोषित करने का प्रोविजन अब तक किसी देश में नहीं है। हर देश में वहां के लोगों की पसंद के हिसाब से ही किसी डिश को नेशनल कुजीन मान लिया जाता है। इससे उस डिश की पहचान और अहमियत पर कोई खास फर्क नहीं पड़ता। खिचड़ी के साथ भी ऐसा ही है।
पॉपुलर डिश को ही नेशनल कुजीन का दर्जा
- न्यूयॉर्क की हॉफस्ट्रा यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जिल्किया जेनर ने फूड कल्चर पर अपनी एक स्टडी में कहा भी था, "किसी भी देश के लिए एक डिश को ऑफिशियल फूड बना देना मुश्किल ही होगा। खासकर भारत जैसे विविधता वाले देश के लिए तो ये संभव ही नहीं है।" बाकी देशों में भी पॉपुलर डिश को ही नेशनल कुजीन मान लिया गया है।
65 हजार करोड़ का मेगा इवेंट है वर्ल्ड फूड इंडिया.
- भारत की फूड इंडस्ट्री को बढ़ावा देने और इस सेक्टर में इन्वेस्टमेंट लाने के लिए वर्ल्ड फूड इंडिया का आयोजन किया जा रहा है। इस पर 65 हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे। - केंद्र का दावा है कि इस इन्वेस्टमेंट से 10 लाख रोजगार पैदा होंगे। देश के 28 राज्य इस इवेंट के पार्टनर बनने वाले हैं। 50 ग्लोबल कंपनियों के सीईओ इवेंट में शिरकत करेंगे।


रन फॉर यूनिटी: नई पीढ़ी को सरदार पटेल से परिचित नहीं कराया गया- मोदी
31 October 2017
नई दिल्ली. देश में नई पीढ़ी को सरदार वल्लभभाई पटेल से परिचित नहीं कराया गया। नरेंद्र मोदी ने यह बात सरदार पटेल की 142वीं जयंती पर यहां हुई डेढ़ किलोमीटर की रन फॉर यूनिटी दौड़ को रवाना करने से पहले कही। उन्होंने यहां मौजूद 15 हजार से ज्यादा लोगों को एकता की शपथ भी दिलाई। इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर भी पहुंचे। बता दें कि सरदार पटेल की जयंती को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जा रहा है।
सरदार साहब ने देश को एक सूत्र में बांध दिया.
इस मौके पर मोदी ने कहा, "आज सरदार वल्लभभाई पटेल की जन्म जयंती है, इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि है। जिस महापुरुष ने देश के लिए जीवन खपा दिया। आजादी के बाद अपने कौशल-दृढ़शक्ति के द्वारा देश को न केवल संकटों से बचाया बल्कि सैकड़ों राजे-रजवाड़ों को भारत में मिलाया। ये सरदार साहब की दूरदृष्टि थी कि अंग्रेजों के मंसूबे को कामयाब नहीं होने दिया और देश को एक सूत्र में बांध दिया।" "देश की नई पीढ़ी को उनसे परिचित ही नहीं करवाया गया। इतिहास के झरोखे से सरदार साहब के नाम को मिटाने का प्रयास हुआ या उनके नाम को छोटा करने का प्रयास हुआ। कोई राजनीतिक दल उनके माहात्म्य को स्वीकार करे या न करे, लेकिन हमारी पीढ़ी उन्हें इतिहास से ओझल होने देने के लिए तैयार नहीं है।
डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने भी जताई भी पटेल को भुला देने की पीड़ा..
मोदी ने कहा, "जब देश ने हमें काम करने के मौका दिया तो उनके काम पीढ़ियों तक जाने जाएं, हमने रन फॉर यूनिटी का आयोजन किया। एक बार देश के पहले राष्ट्रपति राजेन्द्र प्रसाद ने कहा था- आज सोचने और बोलने के लिए हमें भारत नाम का देश उपलब्ध है, यह सरदार वल्लभभाई पटेल की स्टेट्समैनशिप और प्रशासन पर जबर्दस्त पकड़ के कारण हो पाया। ऐसा होने के बावजूद हम सरदार साहब को भूल बैठे हैं। राजेन्द्र बाबू ने सरदार वल्लभभाई पटेल के भुला देने की पीड़ा व्यक्त की थी। आज राजेन्द्र बाबू की आत्मा जहां कहीं भी होगी, वो खुश हो रही होगी।"
एकता हमारी ताकत है..
मोदी ने कहा, "भारत विविधताओं को देश है। जब तक विविधता से खुद को जोड़ेंगे नहीं तो राष्ट्र निर्माण में उसका इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे। भारत दुनिया के आचार-विचार को अपने में समेटे हुए है।" "आज दुनिया में एक परंपरा में पले-बढ़े लोग एक-दूसरे को जिंदा देखने के लिए तैयार नहीं है। ऐसे वक्त में हिंदुस्तान गर्व से कह सकता है कि ये हमारी ताकत है। जैसे हम हर साल भाई-बहन के रिश्ते को मजबूत करने का पर्व मनाते हैं, उसी तरह एकता के मंत्र को याद रखना जरूरी है।" "हमारा देश एक रहे, सरदार साहब ने देश को जो एक किया, सवा सौ करोड़ लोगों की जिम्मेदारी है कि वो बनी रही। सरदार साहब की जयंती के 150 साल पर हम उन्हें क्या देंगे, इसका संकल्प लेना है।" "2022 में आजादी के 75 साल हो रहे हैं, ऐसे में हर हिंदुस्तानी को संकल्प लेकर आगे बढ़ना चाहिए। ऐसा संकल्प जो देश की गरिमा को ऊपर ले जाना हो। ये समय की मांग है। मैं आपको राष्ट्रीय एकता दिवस पर शपथ के लिए आमंत्रित करता हूं।"
मोदी ने क्या शपथ दिलाई?..
मोदी ने शपथ दिलाई, "मैं सत्यनिष्ठा से शपथ लेता हूं कि राष्ट्र की एकता, अखंडता और सुरक्षा को बनाए रखने के लिए स्वयं को समर्पित करूंगा और अपने देशवासियों के बीच यह संदेश फैलाने का भी भरसक प्रयत्न करूंगा। मैं यह शपथ अपने देश की एकता की भावना से ले रहा हूं जिसे सरदार वल्लभभाई पटेल की दूरदर्शिता एवं कार्यों द्वारा संभव बनाया जा सका। मैं अपने देश की आतंरिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए भी आत्मनिष्ठा से शपथ लेता हूं। भारत माता की जय।"
ये प्लेयर्स भी पहुंचे.
क्रिकेटर सुरेश रैना, हॉकी प्लेयर सरदारा सिंह, वेट लिफ्टर कर्णम मल्लेश्वरी, जिमनास्ट दीपा करमाकर भी पहुंचे।
कांग्रेस का आरोपों से इनकार..
दिल्ली की पूर्व सीएम और कांग्रेस लीडर शीला दीक्षित ने मोदी के आरोपों को खारिज किया है। उन्होंने कहा, "ऐसा कुछ नहीं है। यह गलत है। हमने सरदार पटेल के योगदान को कभी नजरअंदाज नहीं किया।"
लौह पुरुष क्यों कहलाए सरदार पटेल?...
भारत के स्वतंत्रता सेनानी रहे वल्लभभाई पटेल, आजादी के बाद देश के पहले गृहमंत्री और उप-प्रधानमंत्री बने। सरदार पटेल ने भारत की करीब 562 रियासतों को एक कर दिया था और इसी की वजह से बाद में भारत एकजुट राष्ट्र बना। भारत की रियासतों को एक राष्ट्र में मिलाने की वजह से ही सरदार पटेल को भारत का लौह पुरुष कहा जाने लगा।
सरदार पटेल ने कैसे मिलाया रियासतों को?
देश की रियासतों को एक साथ मिलाने के लिए पटेल ने जो तरकीब अपनाई थी वो दिलचस्प है। इसके लिए 5 जुलाई 1947 को एक रियासत विभाग बनाया गया। इसके बाद उनका काम शुरू हुआ। हर रियासत के राजा के पास पटेल ने उनकी परेशानियां सुनीं और उनका हल निकाला। इस तरह उन्होंने सारी रियासतों को एक कर दिया। 1947 तक आते-आते सिर्फ तीन ही रियासतें बचीं जो भारत में नहीं मिल पाईं। इनमें कश्मीर, जूनागढ़ और हैदराबाद थीं। हालांकि, इनमें से जूनागढ़ को 9 नवंबर 1947 को भारत में मिला लिया गया था लेकिन जूनागढ़ का नवाब पाकिस्तान भाग गया। इसके बाद हैदराबाद को भी भारत में मिला लिया गया। दिलचस्प तो यह है कि इन सारी रियासतों को एकजुट करने के दौरान ना तो किसी तरह का खून-खराबा हुआ और ना ही किसी तरह का बल प्रयोग करना पड़ा। जबकि कश्मीर रियासत पंडित नेहरू ने अपने अधिकार में ली हुई थी। 562 रियासतों को एक करना नामुमकिन सी बात थी, लेकिन पटेल ने वो कर दिखाया और इसकी तारीफ महात्मा गांधी ने भी की थी। पटेल गृहमंत्री के रूप में पहले ऐसे शख्स थे जिन्होंने भारतीय नागरिक सेवाओं (ICS) का भारतीयकरण किया और उन्हें IAS बनाया।


गुजरात चुनाव: मोदी करेंगे 30 सभाएं, कांग्रेस मनमोहन को उतारेगी मैदान में
28 October 2017
गांधीनगर/अहमदाबाद. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गुजरात में दिसंबर में होने वाले विधानसभा चुनाव में करीब एक महीने में 30 से ज्यादा चुनावी सभाएं करेंगे। इसके अलावा रोड में भी शामिल होंगे, लेकिन ये कितने होंगे अभी इसकी बारे में तय नहीं किया गया है। उधर, पाटीदार-ओबीसी-दलित समीकरण बनाने में जुटी कांग्रेस जीएसटी पर कारोबारियों की नाराजगी को भुनाने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को भी मैदान में उतारेगी। सोनिया गांधी की भी कुछ सभाएं हो सकती हैं नरेन्द्र मोदी की करीब 16 के करीब सभाएं करने की प्लानिंग थी पर अब इसे बढ़ाकर 30 से ज्यादा कर दिया गया है। ऐसा कहा जा रहा है कि अगर पार्टी को जरूरत पड़ी तो इसे बढ़ाया जा सकता है। मोदी पहले फेज के लिए नॉमिनेशन से ठीक पहले सभाओं का दौर शुरू करेंगे। वह इस साल अब तक राज्य के नौ दौरे कर चुके हैं। हाल में गुजरात दौरे पर खासी भीड़ जुटाने वाले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की भी फिर से कई सभाएं राज्य में होंगी।
पहले फेज में 89 और दूसरे में 93 सीटों पर होगा चुनाव...
- राज्य में दिसंबर में दो फेज में चुनाव होने वाले हैं। पहले फेज में 9 दिसंबर को सौराष्ट्र-कच्छ और दक्षिण गुजरात के कुल 19 जिलों की 89 सीटों पर तथा दूसरे फेज में 14 दिसंबर को उत्तर और मध्य गुजरात के बाकी 14 जिलों की 93 सीटों पर चुनाव होगा। काउंटिंग 18 दिसंबर को होगी।
लगातार सातवें दिन भी अमित शाह ने जारी रखा चुनावी बैठकों का दौर..
- बीजेपी प्रेसिडेंट अमित शाह ने लगातार छह दिनों तक पार्टी की गुजरात प्रदेश संसदीय बोर्ड की बैठक में आगामी विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी कैंडिडेट्स के नाम पर मंथन के बाद शुक्रवार को सातवें दिन भी इसी सिलसिले में एक और हाई लेवल मीटिंग की। - शाह ने गुजरात बीजेपी के प्रदेश मुख्यालय श्रीकमलम‌् में पार्टी की प्रदेश कोर कमेटी के सदस्यों और दूसरे नेताओं के साथ एक बैठक में शिरकत की और चुनावी रणनीति और कैंडिडेट्स की लिस्ट से जुड़े पैनल पर चर्चा की। - पार्टी के एक नेता ने बताया कि मीटिंग में मौजूदा पॉलिटिकल सेनेरियो और विपक्षी कांग्रेस की ओर से जातीय समीकरण बनाने की कोशिश और लामबंदी के साथ जीएसटी के मुद्दे पर सरकार को घेरने आदि को लेकर चर्चा हुई। -उन्होंने बताया कि अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से सलाह मशविरे के बाद पार्टी का केंद्रीय संसदीय बोर्ड कैंडिडेट्स की सूची जारी करेगा। - शाह ने अहमदाबाद में 21 से 26 अक्टूबर तक प्रदेश संसदीय बोर्ड की बैठक में भी सभी छह दिन हिस्सा लिया था और इसमें क्षेत्रवार उम्मीदवारों के नाम पर चर्चा हुई थी। शुक्रवार की मीटिंग भी इसी को लेकर हुई थी।
वाघेला की पार्टी ने कहा- मुख्यमंत्री के चेहरे बताएं बीजेपी-कांग्रेस....
- पूर्व मुख्यमंत्री शंकरसिंह वाघेला की अगुवाई वाले जन विकल्प मोर्चा ने सत्तारूढ़ बीजेपी और मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस से अपने-अपने मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवारों के चेहरे जनता के सामने रखने की मांग की है। - मोर्चा के प्रवक्ता पार्थेश पटेल ने शुक्रवार को कहा कि बीजेपी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सहारे तो कांग्रेस राहुल गांधी को आगे कर चुनाव में उतरी है। 1996-97 में राष्ट्रीय जनता पार्टी सरकार के मुखिया शंकरसिंह वाघेला गैर भाजपा, गैर कांग्रेस तीसरे विकल्प के तौर पर चुनाव मैदान में उतरे जन विकल्प मोर्चे के अगुवा हैं।


दिल्ली में फिर लागू हो सकती है ऑड-ईवन स्कीम, केजरी सरकार का अफसरों को लेटर
26 October 2017
नई दिल्ली.राजधानी में बढ़ते पॉल्यूशन लेवल को देखते हुए फिर से ऑड-ईवन स्कीम शुरू हो सकती है। केजरीवाल सरकार ने इसके लिए दिल्ली ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन (DTC) और ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट के अफसरों को लेटर लिखा है। ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर कैलाश गहलोत ने गुरुवार को कहा कि राजधानी की सड़कों पर गाड़ियों की संख्या पर लगाम लगाने के लिए सरकार ऑड-ईवन के लिए पहल कर रही है। बता दें कि पिछले साल जनवरी और अप्रैल में 15-15 दिन के लिए ये स्कीम लागू की जा चुकी है।
खराब पब्लिक ट्रांसपोर्ट बड़ी चुनौती.....
- गहलोत ने डीटीसी और ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट के अफसरों को लिखे लेटर में कहा कि बढ़ते पॉल्यूशन लेवल को देखते हुए आम आदमी पार्टी सरकार कुछ आपातकालीन फैसले ले रही है। ऑड-ईवन भी इसमें शामिल है। इसके लिए तैयारियां पूरी कर ली जाएं, ताकि इसे जल्द शुरू किया जा सके। - गहलोत ने कहा कि ऑड-ईवन स्कीम लागू करने के लिए दिल्ली में डीटीसी की बसों की संख्या बढ़ाने की जरूरत है। मेट्रो को छोड़ दिया जाए तो पब्लिक ट्रांसपोर्ट की खराब हालत इसे लागू करने में बड़ी चुनौती है। - बता दें कि राजधानी में पब्लिक ट्रांसपोर्ट के तौर पर फिलहाल डीटीसी की करीब 4000 और क्लस्टर स्कीम के तहत 1600 बसें चलाई जा रही हैं। वहीं, एक्सपर्ट्स की मानें तो दिल्ली के सभी इलाकों को कवर करने के लिए करीब 11 हजार बसों की जरूरत है।
सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा था?...
- कोर्ट ने पिछले हफ्ते पॉल्यूशन की परेशानी को लेकर एन्वायरन्मेंट पॉल्यूशन कंट्रोल अथॉरिटी (EPCA) को ग्रेडेड रिस्पॉन्स एक्शन प्लान (GRAP) लागू करने का जिम्मा सौंपा था। - इस दौरान कोर्ट ने कहा था, ''सड़कों पर गाड़ियों का दबाव कम करने के लिए ऑड-ईवन लागू करने में हिचकिचाहट नहीं होनी चाहिए। अगर जरूरत पड़े तो स्कूलों को भी बंद रखा जाए।'' - बता दें कि ईपीसीए ने पॉल्यूशन कंट्रोल के लिए कार्रवाई करते हुए पहले ही बदरपुर थर्मल पावर प्लान्ट, ईंट-भट्टों और जनरेटर के इस्तेमाल पर रोक लगा चुकी है।
क्या है ऑड-ईवन स्कीम?..
- बता दें कि केजरीवाल सरकार ने 2016 के जनवरी और अप्रैल महीने में 15-15 दिन के लिए ऑड-ईवन स्कीम लागू की थी। इस दौरान एक दिन ऑड नंबर की गाड़ियां और दूसरे दिन ईवन नंबर की गाड़ियां चलाने की इजाजत थी। इससे सड़कों पर ट्रैफिक का दबाव कम हुआ था। - ऑड-ईवन को तब लागू किया जा सकता है, जबकि पॉल्यूशन लेवल 48 घंटे या इससे ज्यादा वक्त के लिए इमरजेंसी लेवल को पार कर जाए।


दिवाली की रात दो ज्वैलर्स के कारखानों में 12 Cr की चोरी, नेपाल भागे 5 चोर
23 October 2017
नई दिल्ली.सेंट्रल दिल्ली के करोलबाग इलाके में चोरों ने दो ज्वैलरी कारखानों से करीब 12 करोड़ का माल चोरी कर लिया। चोरों ने दिवाली की रात तिजोरियां काटने के लिए गैस कटर का इस्तेमाल किया। सीसीटीवी जांच से सुराग मिला है कि वारदात में 5 नेपाली किरायेदारों का हाथ है, जो देश छोड़कर भाग चुके हैं।
तीसरे और चौथे फ्लोर पर हुई चोरी...
- पुलिस ने सोमवार को बताया कि जांच टीम को कुछ सीसीटीवी फुटेज मिली हैं, जिनमें चोर नजर आ रहे हैं। बदमाशों ने दिवाली की रात चोरी की घटना को अंजाम दिया। जब दिल्ली समेत पूरा देश दीपोत्सव मान रहा था। अगली सुबह मालिकों के कारखाने पहुंचने पर वारदात का खुलासा हुआ। - चोरों ने तीसरे फ्लोर के कारखाने से 6.80 करोड़ और चौथे फ्लोर पर चिराग वर्मा के कारखाने से 5.20 करोड़ की ज्वैलरी चुराई।
वारदात के बाद नेपाल भागे चोर...
- पुलिस को शक है कि बिल्डिंग के फर्स्ट फ्लोर पर रहने वाला नेपाली मूल के 5 किरायेदार चोरी में शामिल थे। मोबाइल लोकेशन से खुलासा हुआ है कि वारदात के बाद सभी नेपाल भाग गए। - हालांकि, अब तक ये साफ नहीं हो पाया है कि चोरी का सामान वे अपने साथ ले गए या दिल्ली में ही कहीं ठिकाने लगा दिया। पुलिस की कई टीमें उनकी तलाश में लगी है।


आयुर्वेद में 100% भरोसा जरूरी, इसका बोर्ड लगाकर अंग्रेजी इलाज करते हैं: मोदी
17 October 2017
नई दिल्ली.नरेंद्र मोदी ने दूसरे आयुर्वेद दिवस के मौके पर मंगलवार को दिल्ली में देश के पहले अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (AIIA) का इनॉगरेशन किया। राजधानी के सरिता विहार इलाके में इसे ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) की तर्ज पर बनाया गया है। इस मौके पर पीएम ने आयुर्वेद की पढ़ाई करने वालों से ही पूछा कि उन्हें क्या इसमें 100% भरोसा है। मोदी ने आगे कहा कि लोग हॉस्पिटल की शुरुआत आयुर्वेद का बोर्ड लगाकर करते हैं, फिर अंदर अंग्रेजी इलाज होने लगता है। .
हर जिले में हो गए अायुर्वेदिक हॉस्पिटल.......
- इस मौके पर मोदी ने कहा, "साथियों, आयुर्वेद को बढ़ाने के लिए देश के हर जिले में अच्छी सुविधाओं से लैस एक आयुर्वेदिक अस्पताल जरूर होगा। आयुष मंत्रालय ने इसकी शुरुआत कर दी है। अब तक ऐसे 65 अस्पताल बन चुके हैं।" - "मेरी आप सबको शुभकामनाएं हैं कि वेलनेस का ऐसा माहौल बने कि आपको यहां तक आने की नौबत ना आए। आज इस इंस्टीट्यूट से आयुर्वेद को नई ऊर्जा मिल रही है। यह संस्थान रिसर्च और हेल्थ प्रैक्टिस का केंद्र बनेगा।"
आयुर्वेद पढ़ते हैं तो उसमें भरोसा भी रखें....
- मोदी ने कहा, "मुझे बताएं कि आज जो स्टूडेंट्स आयुर्वेद पढ़कर निकलते हैं। कितनों की 100% श्रद्धा आयुर्वेद में है। जब कोई मरीज आता है तो कहता है यार जल्दी ठीक हो जाऊं इसके लिए एलोपैथिक ही दे दो। बाहर बोर्ड तो आयुर्वेद का लगा होता है, लेकिन अंदर इलाज होने लगता है अंग्रेजी।" - "एक कहानी है कि एक बार किसी ने नौकर से पूछा मालिक कहां गए तो उसने कहा वो तो आगे वाले रेस्टोरेंट में खाने गए हैं। मुझे बताएं कि उसके रेस्टोरेंट में कौन खाने आएगा। यही हाल आयुर्वेद का है। जब डॉक्टर्स ही अपने इलाज के लिए एलोपैथिक डॉक्टर से सामने लाइन में खड़े रहेंगे तो कौन उनसे इलाज कराएगा।"
हर कोर्स के लिए मिले अलग सर्टिफिकेट......
- मोदी ने कहा, "आयुर्वेद के अलावा फिजियोथैरिपी में भी बड़ा स्कोप है। आजकल तो खिलाड़ियों के साथ कई बड़े लोग अपने पर्सनल फिजियो रखते हैं। 4 साल तक बीएएमएस की पढ़ाई के दौरान स्टूडेंट्स को आयुर्वेद, योग, पंचकर्म समेत कई कोर्स पढ़ाए जाते हैं। मैं सोचता हूं कि उन्हें हर कोर्स के लिए अलग सर्टिफिकेट दिया जाए, ताकि वो डिग्री के साथ-साथ अपनी प्रैक्टिस शुरू कर सकें।"
अायुर्वेद में डाटा और रिसर्च बहुत जरूरी......
- पीएम ने कहा, "आयुर्वेद में डाटा और रिसर्च मैनेजमेंट बहुत जरूरी है। एक कमीशन की रिपोर्ट के मुताबिक, हमारे घरों से आयुर्वेद दूर है, क्योंकि इसकी पद्धति आज के जमाने के हिसाब से नहीं है। लोग इसी से परेशान हो जाते हैं कि पहले दवाई को उबालो, फिर छानो, सुखाओ। आज इन दवाओं की पैकेजिंग की जरूरत है, ताकि एलोपैथिक की तरह ही उन्हें दवाएं तैयार मिल सकें।"
हर्बल दवाओं का ग्लोबल मार्केट हो रहा तैयार....
- "दुनिया में हर्बल दवाओं का ग्लोबल मार्केट तैयार हो रहा है। भारत को भी इसमें भागीदार होना है। औषधीय खेती के लिए काम करना होगा।" - "आपने देखा होगा कि विटामिन बी12 के लिए सी-बीट की खेती होती है। अगर हम नई टेक्नोलॉजी पर काम करें तो उन मछुआरों की जिंदगी में भी रोशनी बिखेर सकते हैं। हम 2022 तक किसानों की इनकम दोगुना करना चाहते हैं कृषि और आयुष मंत्रालय इसके लिए मिलकर काम करें।"
गरीबों को मिले सस्ता इलाज.....
- मोदी ने कहा, "दुनिया बड़ी आशा भरी नजरों से भारत के आयुर्वेद और योग की ओर देख रही है। हम हर तरह के हेल्थ सिस्टम का सम्मान करते हैं। सभी को अपनी तरक्की का हक है। सरकार का टारगेट है कि कैसे भी हो गरीबों को सस्ता इलाज मिले। हमने मिशन इंद्रधनुष की शुरुआत की थी, इसके तहत 2.5 करोड़ बच्चों और 70 लाख महिलाओं को टीका लगाया जा चुका है।" - इन बच्ची की जिंदगी अनमोल है। पहले टीकाकरण में बढ़ोतरी 1% थी, जो तीन साल में अब 6.5% हो चुकी है।
आयुर्वेद का टॉप इंस्टीट्यूट होगा......
- पहले फेज में इस इंस्टीट्यूट को 10 एकड़ में बनाया गया है। इसे तैयार करने में 157 करोड़ रुपए की लागत आ रही है। इसे एक्रीडिएशन बोर्ड ऑफ हॉस्पिटल (NABH) से मंजूरी मिली हुई है। इस इंस्टीट्यूट में एक एकेडमिक ब्लॉक भी है।
पिछले साल ही शुरू हुआ आयुर्वेद दिवस......
- देश में पहला आयुर्वेद दिवस पिछले साल मनाना गया था। धन्वंतरि जयंती के मौके पर मोदी सरकार ने इसकी शुरू की। - इसका मकसद भारत के पारंपरिक आयुर्वेदिक इलाज को बढ़ावा देना है। धन्वंतरि को आयुर्वेद का देवता माना जाता है।


रूसी टूरिस्ट इंडिया में मांग रहा भीख, सुषमा के Tweet के बाद आए ऐसे कमेंट
12 October 2017
नई दिल्ली.फॉरेन मिनिस्टर सुषमा स्वराज ने भारत आए एक रूसी पर्यटक की मदद के लिए ट्वीट किया। इसके बाद यूजर्स के लगातार रिएक्शन देखने को मिले। दरअसल, मीडिया रिपोर्ट को देखने पर सुषमा स्वराज ने मंगलवार देर रात ट्वीट किया, ‘इवांजेलिन, आपका देश रूस हमारा परखा हुआ घनिष्ठ मित्र है। चेन्नई में हमारे अधिकारी आपकी पूरी मदद करेंगे।’ .
जानें, क्या है मामला.....
- 24 वर्षीय इवांजेलिन 24 सितंबर को भारत आया था और फिर कांचीपुरम पहुंचा था। यहां एटीएम पिन लॉक होने से वह पैसे नहीं निकाल सका। - निराश-हताश इवांजेलिन श्री कुमारकोट्‌टम स्वामी मंदिर के गेट पर भीख मांगने लगा। इसी रिपोर्ट को सुषमा ने अखबार में देखा और मदद का अाश्वासन दिया। - पुलिस ने इवांजेलिन के रिकॉर्ड्स की जांच की। उसका वीसा भी अगले महीने तक वैध है। - पुलिस ने इवांजेलिन को कुछ पैसे दिए और उसे चेन्नई में रूसी कमर्शियल एम्बेसी के ऑफिसर्स से कॉन्टैक्ट करने को सलाह दी। ..
यूजर्स के आए ऐसे कमेंट....
- एक यूजर्स ने सुषमा स्वराज को आजादी के बाद का सबसे अच्छा फॉरेन मिनिस्टर बताया है। - एक यूजर्स ने तो सुषमा स्वराज को मदर इंडिया तक लिखा। - एक यूजर्स ने कहा है कि अतिथि देवो भव: हम भारतीयों का कल्चर है। हमें उनकी हेल्प करना चाहिए।


मेट्रो का सफर आज से महंगा, 12 दिन तक राजनीति और मीटिंग्स बेनतीजा रहीं
10 October 2017
नई दिल्ली.दिल्ली मेट्रो रेल किराए की 10 अक्टूबर से होने वाली वृद्धि को लेकर 12 दिन दिल्ली सरकार, डीएमआरसी और केन्द्र सरकार के बीच राजनीति चली। एक दर्जन से ज्यादा निर्देश, चिट्ठी, बैठकें हुईं लेकिन पब्लिक को आज से बढ़ा हुआ किराया चुकाना पड़ेगा। न्यूनतम किराया 10 रुपए ही रहेगा लेकिन अधिकतम किराया 50 रुपए से बढ़ाकर 60 रुपए हो गया है। वहीं अब दूसरे नंबर पर 15 रुपए के स्लैब को 20 रुपए करने के अलावा बाकी स्लैब में 10 रुपए की वृद्धि की गई है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के अड़े रहने के बाद केन्द्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी के निर्देश पर डीएमआरसी बोर्ड की बैठक तो हुई लेकिन वहां सिर्फ दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत की तरफ से 28 सितंबर को मुख्य सचिव को दिए गए आदेश पर चर्चा मात्र हुई। - निर्माण भवन में रात 8 बजे बुलाई गई डीएमआरसी बोर्ड की आपात बैठक में अधिनियम के सेक्शन 37 का हवाला देकर कहा गया कि किराया निर्धारण समिति की सिफारिश को डीएमआरसी मानने के लिए बाध्य है।
"दिल्ली सरकार को दिन में पता था, नहीं रुकेगी किराया वृद्धि...
- केन्द्रीय आवास एवं शहरी विकास सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने मुख्य सचिव डॉ. एमएम. कुट्टी को एक पत्र लिखकर बता दिया था कि मेट्रो किराया वृद्धि हम नहीं रोक सकते। क्योंकि मेट्राे अधिनियम का सेक्शन 37 ऐसा करने की छूट नहीं देता। - भास्कर के पास मौजूद चिट्ठी के अनुसार यहां तक कहा कि डीएमआरसी बोर्ड को इस मामले में चर्चा या बदलाव का अधिकार नहीं है। - आपको खुद पता है कि 8 मई की बैठक में भी बोर्ड के समक्ष सिर्फ आपत्ति दर्ज कराई थी। उसी दिन तय था की अक्टूबर में किराया बढ़ेगा। तो फिर अब बैठक बुलाने का कोई मतलब नहीं। इसलिए आप मेरी स्थिति को पूरी समझें और डीएमआरसी को नियम कानून के हिसाब से चलने दें।
मेट्रो किराए पर घमासान...
- मेट्रो की प्रस्तावित किराया वृद्धि रोकने के लिए दिल्ली विधानसभा में पेश बिल सोमवार को काफी हंगामे और शोरगुल के बीच पास कर दिया गया। हालांकि, इस दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल मौजूद नहीं रहे। - प्रस्ताव को मंजूरी मिलते ही विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी को पत्र लिखकर तत्काल किराया वृद्धि के प्रस्ताव को रोकने की मांग की। इस दौरान सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच कई बार नोकझोंक भी हुई। प्रतिपक्ष के दो विधायकों मनजिंदर सिंह सिरसा और ओम प्रकाश शर्मा को मार्शल के जरिए सदन से बाहर कर दिया गया। - प्रस्ताव पर चर्चा करते हुए परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने सवाल किया कि जब पिछले साल ही किराया वृद्धि की बात की गई थी तो आठ महीने तक किराया क्यों नहीं बढ़ाया गया? - कैलाश गहलोत के इस सवाल के बीच ही विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने केंद्र की बीजेपी सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि दिल्ली नगर निगम का चुनाव होने की वजह से किराया नहीं बढ़ाया गया। - कैलाश गहलोत के जवाब के दौरान नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने कई बार खड़े होकर परिवहन मंत्री के बयानों को गलत बताया, जिससे दोनों नेताओं में तीखी बहस हुई। - 4 अक्टूबर को दिल्ली विधानसभा के विशेष सत्र के दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने विपक्ष को कहा था, ‘यदि मर्द के बच्चे हो तो पीठ पीछे राजनीति मत करो, सामने से करो।’ - इस बयान पर सोमवार को भाजपा विधायकों ने सत्र शुरू होते ही मुख्यमंत्री से माफी मांगने की मांग की। लेकिन विस अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने कहा कि यदि विपक्ष को इस शब्द से एतराज था तो उसे उसी दिन हमें लिखित में संज्ञान में लाना चाहिए था या इस शब्द को सदन से निकलवाने की मांग
"छात्रों ने मेट्रो रोक किया विरोध...
- मेट्रो किराया वृद्धि के विरोध में सोमवार सुबह विश्वविद्यालय मेट्रो स्टेशन पर छात्रों ने जमकर विरोध किया। एनएसयूआई के तीन छात्र नेता बाकायदा मेट्रो स्टेशन की लाइन पर ही लेट गए। - इससे सुबह 11 बजे से 11.32 बजे तक मेट्रो परिचालन बाधित रहा। सीआईएसएफ कर्मियों ने उनको बाहर निकाला। - उनकी मांग है कि मेट्रो किराए की वृद्धि को रोका जाए, साथ ही छात्रों को स्पेशल रियायती पास दिए जाएं।
" स्टूडेंट्स को मेट्रो में रियायती पास देने पर कर सकते हैं चर्चा : सेंट्रल मिनिस्टर....
-मेट्रो किराया वृद्धि को लेकर सभी जानना चाहते थे कि आखिर केंद्र इस पर क्या रुख अपनाएगा। किराया बढ़ाने को लेकर भी कहीं राजनीति का खेल तो नहीं शुरू हो गया। - इस पर पूर्व राजदूत तथा आईएफएस अधिकारी और केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी से भास्कर ने दिल्ली में आयोजित दो कार्यक्रमों के दौरान सवाल जवाब किए।


जज नियुक्ति, प्रमोशन से जुड़ी सिफारिशें सार्वजनिक, इतिहास में पहली बार
7 October 2017
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट की कॉलेजियम ने न्यायिक इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के जजों की नियुक्ति, ट्रांसफर और पदोन्नति को लेकर केंद्र सरकार को भेजी जाने वाली सिफारिशें सार्वजनिक करने का फैसला किया है। सुप्रीम कोर्ट की पांच सीनियर जजों की कॉलेजियम ने कहा कि पारदर्शिता व कॉलेजियम प्रणाली की विश्वसनीयता बरकरार रखने के लिए ये कदम उठाया है। सभी सिफारिशें सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट पर सार्वजनिक होंगी। केरल व मद्रास हाईकोर्ट ने इसकी शुरुआत भी कर दी है। कॉलेजियम में शामिल सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस जे चेलमेश्वर, रंजन गोगोई, मदन बी लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ ने 3 अक्टूबर को आदेश जारी किया है। इसके मुताबिक सभी हाईकोर्ट में जजों की नियुक्ति, तबादले, जजों के कंफर्मेशन के अलावा चीफ जस्टिस की नियुक्ति व तबादले और सुप्रीम कोर्ट में जजों की नियुक्ति संबंधी सरकार को भेजी जाने वाली सिफारिशें कारण समेत सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट पर डाली जाएंगी।


अर्थव्यवस्था का चीरहरण होगा तो मैं खामोश नहीं रहूंगा, बोलूंगा: यशवंत सिन्हा
5 October 2017
नई दिल्ली. देश की जीडीपी ग्रोथ, एफडीआई और रोजगार पर उठ रहे सवालों पर नरेंद्र मोदी ने एक दिन पहले अपने आलोचकों को जवाब दिया था। उनका इशारा बीजेपी के नेता और पूर्व फाइनेंस मिनिस्टर यशवंत सिन्हा और विपक्ष की तरफ था। प्रधानमंत्री की सफाई पर गुरुवार को यशवंत सिन्हा ने पलटवार किया। सिन्हा ने एक चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा, "अर्थव्यवस्था का चीरहरण होगा तो मैं खामोश नहीं रहूंगा, बोलूंगा।" सिन्हा ने ये भी कहा, "मैंने तो सोचा था कि पीएम किसी राज्यमंत्री को आगे करेंगे, लेकिन मेरे सवालों का जवाब देने के लिए खुद आगे आ गए। यह देखकर मुझे आश्चर्य हुआ।" बता दें कि मोदी ने कहा था कि "कुछ लोग महाभारत में कर्ण के सारथी रहे शल्य की तरह होते हैं, ये लोग केवल दूसरों में निराशा फैलाते हैं। ...
" आंकड़ों का खेल बहुत खतरनाक होता है....
- सिन्हा ने इंटरव्यू में कहा, "प्रधानमंत्री ने खुद देश की जनता के सामने कुछ बातें रखी हैं तो यह स्वागत योग्य है। और यह डिबेट आगे बढ़ना चाहिए। और उसी डिबेट को आगे बढ़ाते हुए मैं आपसे कहूंगा कि आंकड़ों का जो खेल होता है न वह बहुत खतरनाक होता है। इन आंकड़ों के बल पर आप एक पक्ष साबित करेंगे तो उन्हीं पर मैं दूसरा पक्ष साबित कर सकता हूं। इसलिए इनके साथ हमें जमीनी हकीकत भी देखनी चाहिए।"
Q&A में पढ़ें, यशवंत सिन्हा ने और क्या कहा...?....

Q. मोदी ने कहा है कि पिछली सरकार में 8 बार जीडीपी 5% से नीचे गई और इस बार एक तिमाही में ही ऐसा हुआ?....
- सिन्हा बोले कि एक तिमाही में ही ऐसा नहीं हुआ है। इसके पहले वाली तिमाही में भी ऐसा हुआ है। उस तिमाही में भी जीडीपी 5.7% से भी कम रहा था। इसलिए छह तिमाही से लगातार जीडीपी नीचे आ रही है। - जब आप 2019 में चुनाव में जाएंगे, तब लोग आपसे ये नहीं पूछेंगे कि यूपीए सरकार की तुलना में कितना काम किया, लोग आपसे पूछेंगे कि आपने जो वादे किए थे, उनका क्या हुआ? इसके जवाब में हम कहेंगे कि हमने यूपीए से बेहतर काम किया है तो वे इस रिस्पॉन्स से सहमत नहीं होंगे।
Q. मोदी ने कहा कि बहुत सारे लोग ऐसे हैं, जिन्हें तब तक नींद नहीं आती, जब तक वे बुराई न कर लें। उन्होंने कर्ण के सारथी शल्य का हवाला दिया है?
- सिन्हा ने कहा कि महाभारत में हर तरह के कैरेक्टर हैं। एक शल्य का भी चरित्र था। शल्य कौरवों के पक्ष में क्यों गया, इसकी कहानी सभी जानते हैं। दुर्योधन ने उन्हें ठग लिया। वो तो नकुल और सहदेव के मामा थे। उन्हें तो पांडवों की तरफ से लड़ना था, लेकिन ठगी के शिकार हो गए। - महाभारत में एक और कैरेक्टर भीष्म पितामह का है। उनका बहुत अच्छा चरित्र है। लेकिन आज भी वो इतिहास में दोषी माने जाते हैं, जब द्रोपदी का चीरहरण हो रहा था। तब भीष्म पितामह खामोश थे। मैं कहना चाहता हूं कि अगर अर्थव्यवस्था का चीरहरण होगा तो मैं खामोश नहीं रहूंगा और बोलूंगा। ​
Q. रोजगार पर प्रधानमंत्री कितना सही कह रहे हैं?....
- उन्होंने कुछ 80-85 लाख का आंकड़ा कोट किया। इतने नए लोग ईपीएफ ऑर्गनाइजेशन में शामिल हो गए हैं। जिन लोगों को रोजगार मिलता है वही लोग शामिल होते हैं। पर यह सच्चाई नहीं है। एक अभियान चलाया गया, जो लोग नौकरी में हैं, लेकिन ईपीएफओ में शामिल नहीं है, उन्हें शामिल कराए जाए और 2009 से जो लोग नौकरी में हैं, उन्हें इसमें शामिल किया गया है। जो आंकड़ा दिया जा रहा है, वह उनका है।
Q. नई अर्थव्यस्था को सुधारने के लिए आप क्या सलाह देंगे?....
- मैं कोई सलाह नहीं दूंगा। मैं इस काबिल नहीं हूं। मुझसे ज्यादा काबिल लोग सरकार में हैं। मैं पूर्व वित्तमंत्री नहीं रहा होता तो मुझे सलाह देना उत्साह होता। मैंने करके दिखाया है।
सिन्हा ने पहले कहा था, नोटबंदी सबसे बड़ा इकोनॉमिक डिजास्टर....
- सिन्हा ने हाल ही में एक अंग्रेजी अखबार में आर्टिकल लिखा था जिसमें उन्होंने इकोनॉमी में गिरावट के लिए अरुण जेटली और मोदी सरकार की आलोचना की थी। सिन्हा ने कहा था, "इकोनॉमी की हालत खराब है। पिछले 2 दशक में प्राइवेट क्षेत्र में इन्वेस्टमेंट सबसे कम रहा है। जीएसटी को गलत तरीके से लागू किया गया। इससे लाखों लोग बेरोजगार हो गए। इकोनॉमी में पहले से ही गिरावट आ रही थी, नोटबंदी ने तो सिर्फ आग में घी का काम किया।" - "नोटबंदी सबसे बड़ा इकोनॉमिक डिजास्टर साबित हुई। जीएसटी को गलत तरीके से लागू करने का बिजनेस पर बहुत बुरा असर पड़ा। लाखों लोग बेरोजगार हो गए। बाजार में नौकरियां अवलेबल नहीं हैं।" जेटली पर सिन्हा ने कहा था कि फाइनेंस मिनिस्ट्री में कोई भी शख्स एक ही काम देख सकता है। बदलते दौर में वहां 24 घंटे काम की दरकार होती है। जेटली जैसे सुपरमैन ताकत वाले भी उसके साथ इंसाफ नहीं कर सकते।
मोदी ने क्या कहा था?....
- मोदी ने इंस्टिट्यूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरीज के प्रोग्राम में जीडीपी ग्रोथ, एफडीआई, रोजगार पर स्पीच दी थी। GDP पर मोदी ने कहा, "क्या आपको लगता है कि देश में पहली बार किसी क्वॉर्टर में जीडीपी की दर 5.7% पर पहुंची है। पिछली सरकार में 8 बार ऐसे मौके आए, जब विकास दर 5.7% या उससे नीचे गिरी थी। देश की अर्थ व्यवस्था ने ऐसी तिमाही भी देखी है, जब विकास दर 0.2 फीसदी, 1.5 फीसदी तक गिरी थी। रिजर्व बैंक ने उम्मीद जताई है कि नेक्स्ट क्वॉर्टर्स में 7.7 तक वृद्धि जाएगी।" - ग्रोथ पर मोदी बोले, "देश में जून के बाद 2 महीनों में महीने के बाद पैसेंजर कारों की बिक्री में अगर 12 फीसदी वृद्धि हुई है तो आप उसे क्या कहेंगे? जब आपको पता चलेगा कि जून के बाद कमर्शियल गाड़ियों की बिक्री में 23% से ज्यादा वृद्धि हुई है, दोपहिया वाहनों की बिक्री में 14% से ज्यादा बढ़ोतरी हुई है, डोमेस्टिक एयर ट्रैफिक में 14% की वृद्धि दो महीनों में हुई है। हवाई जहाज के जरिए माल ढुलाई में 16% की वृद्धि हुई है, टेलीफोन सब्सक्राइबर में 14% से ज्यादा वृद्धि हुई है। ग्रामीण डिमांड को देखें तो ट्रैक्टर की बिक्री में 34% से ज्यादा बढ़ोतरी हुई है।"


मैं नौकरी चाहता तो आप इस जगह ना होते: जेटली पर यशवंत सिन्हा का पलटवार
29 September 2017
नई दिल्ली.पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी नेता यशवंत सिन्हा और वित्त मंत्री अरुण जेटली देश की मौजूदा इकोनॉमी को लेकर आमने-सामने आ गए हैं। सिन्हा ने एक आर्टिकल में मोदी सरकार की पॉलिसीज और अरुण जेटली के फैसलों पर सवाल उठाए थे। इसके जवाब में जेटली ने गुरुवार को इशारों में कहा था- "किसी को 80 साल की उम्र में नौकरी की तलाश है।" सिन्हा ने इसके जवाब में कहा- "अगर मैं नौकरी चाहता तो वे (जेटली) इस जगह ना होते।" बेटे जयंत सिन्हा के लेख पर उन्होंने कहा कि यह मुद्दे को भटकाने की कोशिश है। .
और क्या कहा यशवंत सिन्हा ने.....
- यशवंत सिन्हा ने इंडियन एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में कहा- "अगर देश की इकोनॉमी खराब है तो इसका जिम्मेदार वित्त मंत्री ही होगा ना कि गृह मंत्री। मैं भी व्यक्तिगत आरोप लगा सकता हूं, लेकिन मैं इस जाल में फंसूंगा नहीं। राष्ट्रहित से बड़ा कोई हित नहीं। अगर मेरे सवालों से बेटे का करियर खराब होता हो तो हो जाए।"
विवाद कब शुरू हुआ? कैसे इकोनॉमी की डिबेट पर्सनल हो गई?..
- यशवंत सिन्हा ने इंडियन एक्सप्रेस में मोदी सरकार की पॉलिसीज और मौजूदा इकोनॉमी पर बुधवार को एक आर्टिकल लिखा था। इसमें उन्होंने कहा- "इकोनॉमी की हालत खराब है। पिछले दो दशक में प्राइवेट क्षेत्र में इन्वेस्टमेंट सबसे कम रहा है। जीएसटी को गलत तरीके से लागू किया गया। इससे लाखों लोग बेरोजगार हो गए। इकोनॉमी में पहले से ही गिरावट आ रही थी, नोटबंदी ने तो सिर्फ आग में घी का काम किया।" - "नोटबंदी सबसे बड़ा इकोनॉमिक डिजास्टर साबित हुई। जीएसटी को गलत तरीके से लागू करने का बिजनेस पर बहुत बुरा असर पड़ा। लाखों लोग बेरोजगार हो गए। बाजार में नौकरियों के नए मौके नहीं हैं।"(पूरी खबर यहां पढ़ें)
जेटली ने किया पलटवार, कहा-किसी को 80 साल की उम्र में नौकरी की तलाश है...
- एक दिन बाद गुरुवार को दिल्ली में अरुण जेटली ने कहा था कि आज ऐसे समय जब भारत अपनी आजादी के 70 साल पूरे कर चुका है और मोदी सरकार के साढ़े तीन साल पूरे हो रहे हैं, कोई अस्सी की उम्र में पोस्ट की तलाश में है। वो अब अपना रिकॉर्ड चेक कर लें। हालांकि, जेटली ने साफ तौर पर सिन्हा का नाम नहीं लिया।
4 फैक्ट्स देकर जेटली को दिया जवाब, कहा- नौकरी मांगने वाला आदमी नौकरी नहीं छोड़ता....
1.यशवंत सिन्हा ने एएनआई से बातचीत में कहा-"जेटली साहब मेरी पृष्ठभूमि को भूल गए हैं। 1984 में मेरी आईएएस की नौकरी के 12 साल बाकी थे। मैंने उस नौकरी को छोड़ा था। मैं रिटायर्ड होकर पॉलिटिक्स में नहीं आया था। नौकरी मांगने वाला आदमी नौकरी छोड़ता नहीं है।" 2."वो इस बात को भी भूल गए कि उसके फौरन बाद जब वीपी सिंह की सरकार बनी तो मैं राष्ट्रपति भवन से वापस लौट आया। मुझे लगा कि मेरे साथ इंसाफ नहीं हो रहा। राज्य मंत्री बन रहा था। जब तक वीपी सिंह की सरकार थी, तब तक मैं राज्य मंत्री नहीं बना। पहली बार मंत्री तब बना जब चंद्रशेखरजी की सरकार थी। 3. "राज्यमंत्री जेटलीजी के लिए यह इतनी बड़ी बात थी कि वे बिना सांसद चुने मंत्री बन गए। मेरा कहने का मतलब है कि मैंने उस राज्य मंत्री के पद को 1989 में ठुकरा दिया था। ये इतिहास की बातें हैं। जो संत और फकीर हो गया, आज उस व्यक्ति के बारे में कहना कि मैं नौकरी खोज रहा हूं, इससे और हास्यास्पद आरोप मेरे ऊपर नहीं लग सकता था।" 4."एक और बात मैं कहना चाहूंगा कि 2014 में मैंने खुद यह तय किया मैं लोकसभा चुनाव नहीं लडूंगा। मेरी जीत तय है। फिर भी मैं इससे अलग हो गया। तो आज के दिन यह कहना कि मैं जॉब खोज रहा हूं, कहां तक ठीक है।"
जेटली ने कहा था, यशवंत सिन्हा सबसे खराब मंत्री थे, इसलिए वाजपेयीजी ने हटा दिया.
- यशवंत सिन्हा ने कहा- "ये गलत है। वाजपेयी ने मुझसे एक मंत्रालय लेकर दूसरा मंत्रालय दिया था। उन्होंने मुझसे यह नहीं कहा था कि आप सरकार छोड़कर अलग हो जाइए। मुझे विदेश मंत्रालय दिया गया था। जो लोग आज ये आरोप लगा रहे हैं कि मैं बेकार था, तो उस बेकार मंत्री को इतनी बढ़ी जिम्मेदारी क्यों दी गई। जब मैं विदेश मंत्री बना, तब भारत-पाकिस्तान की फौज आमने-सामने थी। उस परिस्थिति में मैं विदेश मंत्री बना। तो क्या मैं बेकार था?"
जेटली ने और क्या कहा था?...
- जेटली ने कहा- "यूपीए-2 के दौरान नीतियों का क्या हाल था? क्या हम भूल गए? 15 फीसदी एनपीए था 1998 से 2002 के दौरान। क्या हम ये भी भूल जाएं कि 1991 में हमारे पास सिर्फ 4 बिलियन डॉलर फॉरेन रिजर्व बचा था। जेटली जिस वक्त का जिक्र कर रहे थे, उस दौरान सिन्हा फाइनेंस मिनिस्टर थे।" - फाइनेंस मिनिस्टर जेटली ने एक बार फिर सिन्हा का नाम लिए बगैर कहा - जिस किताब को अभी लॉन्च किया गया है, उसका टाइटल India @70, Modi @3.5 and a job applicant @ 80 होना चाहिए था। दरअसल, जिस किताब को जेटली ने लॉन्च किया, उसका टाइटल India @70 Modi @3.5 है। यशवंत को बेटे जयंत ने दिया था जवाब, कहा - जीएसटी और नोटबंदी गेम चेंजर - केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने गुरुवार को एक आर्टिकल में मोदी सरकार की नीतियों को बचाव किया था। उन्होंने लिखा- "जीएसटी, नोटबंदी और डिजिटल पेमेंट जैसी पॉलिसीज इकोनॉमी के लिए गेम चेंजर साबित हुई हैं। बीते एक या दो क्वार्टर में जो जीडीपी ग्रोथ दिखाई गई है, वो आने वाले दिनों में पड़ने वाले असर को ठीक से नहीं दिखाती। स्ट्रक्चरल रिफॉर्म्स न्यू इंडिया के लिए जरूरी हैं। इससे करोड़ों लोगों को नौकरियां मिलेंगी। नई इकोनॉमी ज्यादा ट्रांसपेरेंट, इनोवेटिव और दुनिया की कीमतों से टक्कर लेने वाली होगी। नई इकोनॉमी में हर शख्स को अपनी जिंदगी बेहतर बनाने का मौका मिलेगा।"


हनीप्रीत के वकील के ऑफिस पहुंची पुलिस, कल छापे के वक्त पिछले रास्ते से भागने का शक
27 September 2017
नई दिल्ली.राजधानी और पंचकुला पुलिस की ज्वाइंट टीम दो घंटे के सर्च ऑपरेशन के बावजूद गुरमीत राम रहीम की राजदार हनीप्रीत को नहीं पकड़ सकी। टीम ने मंगलवार सुबह ग्रेटर कैलाश पार्ट टू एन्क्लेव स्थित आलीशान कोठी ए-9 पर भी दबिश डाली, लेकिन हनीप्रीत वहां भी नहीं मिली। दूसरी ओर, बुधवार को दिल्ली पुलिस की एक टीम सीसीटीवी फुटेज की जांच के लिए हनीप्रीत के वकील प्रदीप आर्य के ऑफिस पहुंची। वकील ने दावा किया था कि बेल पेपर्स साइन करने के लिए हनीप्रीत उनके ऑफिस आई थी। ..
पिछले गेट से भागने की आशंका....
-पुलिस जब कोठी पर पहुंची तो मेन गेट अंदर से बंद था। ऐसे में पुलिस ने केयर टेकर राजीव मल्होत्रा को कॉल कर कोठी का दरवाजा खुलवाया। कमरों के ताले तुड़वाकर 2 घंटे तक सघन तलाशी ली। लेकिन हनीप्रीत वहां नहीं मिली। पुलिस ने मेन गेट से कोठी में एंट्री की थी। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि छापेमारी की जानकारी मिलते ही वह कोठी के पिछले गेट से भाग गई होगी।
कोठी में अक्सर आता था राम रहीम...
- सूत्रों की मानें तो ग्रेटर कैलाश की आलीशान कोठी में राम रहीम अक्सर आता था और तथाकथित साध्वियों के साथ वहां वाॅलीबॉल भी खेला करता था। हनीप्रीत राम रहीम के साथ ही यहां आया करती थी। कई बार तो वे दोनों कई दिन तक यहां रुकते थे। ...
पते वाली कोठी किसी ब्रिगेडियर की निकली ...
वकील बोले- पिता-पुत्री का रिश्ता बदनाम कर मीडिया ने किया हनीप्रीत का चरित्र हनन महीनेभर से फरार चल रही हनीप्रीत दिल्ली में ही छिपी थी। यह दावा है उसके वकील प्रदीप कुमार आर्य का। DainikBhaskar से बातचीत में आर्य ने कहा कि मीडिया में अपने और राम रहीम के रिश्तों पर चल रही बातों से हनीप्रीत बेहद परेशान है। इसका फायदा उठाकर विरोधी भी लांछन लगा रहे हैं। पढ़िए वकील से पवन कुमार की पूरी बातचीत...
Q. हनीप्रीत की अग्रिम जमानत याचिका पर हस्ताक्षर किसके हैं? क्या वह आपसे मिली थी? ...
- हस्ताक्षर हनीप्रीत के ही हैं। वह सोमवार दोपहर करीब 1.00 बजे मेरे लाजपत नगर स्थित ऑफिस आई थी। वहां करीब दो घंटे रुकी। उसने मुझे सारे फैक्ट बताए, वकालतनामे और हलफनामे पर हस्ताक्षर किए।
Q. हनीप्रीत नेपाल, कनाडा या पाकिस्तान में छुपी थी क्या?...
- यह सब अफवाह हैं। हनीप्रीत दिल्ली में ही है।
Q. हनीप्रीत ने आपको क्या बताया है?...
- इलेक्ट्रानिक मीडिया में अपने और राम रहीम के रिश्तों पर चल रही अनाप-शनाप बातों से वह चिंतित है। पिता-पुत्री का रिश्ता निर्लज्ज तरीके से दिखाकर मीडिया उसकी छवि को नुकसान पहुंचा रहा है। यह हनीप्रीत की प्राइवेसी का अपमान है। इस चरित्र हनन की कोई भरपाई भी संभव नहीं है।
Q. हनीप्रीत दोषी है या पीड़ित?..
- पीड़ित है। उसने मुझे बताया कि कोर्ट ने जब राम रहीम को दोषी ठहराया तो संकट की घड़ी में वह पिता के साथ थी। ऐसे में कोई भी लड़की अपने पिता के लिए वही करती जो उसने किया। पंचकूला कोर्ट से रोहतक की सुनारिया जेल तक वह हरियाणा पुलिस के साथ ही थी। उनकी सहमति से ही हेलिकॉप्टर में भी बैठी थी। पुलिस ने यह तथ्य दरकिनार कर उसे पंचकूला हिंसा का आरोपी बना दिया। मूल एफआईआर में तो उसका नाम तक नहीं था। पुलिस ने उसे झूठा फंसाया है। उसे धरती की सबसे खतरनाक महिला साबित किया जा रहा है।
Q. हनीप्रीत और राम रहीम के रिश्तों के बारे में आपको क्या जानकारी है?...
- राम रहीम उसके पिता, गुरु, मार्गदर्शक और संत हैं। दोनों हमेशा ड्रग माफिया के खिलाफ लड़े।
Q. उन्होंने दिल्ली में ही क्यों अग्रिम जमानत याचिका दायर की?..
- पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में निष्पक्ष सुनवाई की उम्मीद नहीं थी। हरियाणा के डीजीपी भी हनीप्रीत की जान को खतरा बता चुके हैं। इसलिए दिल्ली हाईकोर्ट में पहुंचे।


हम वंशवाद की राजनीति नहीं करते, वर्कर्स पार्टी और उसके काम को आगे बढ़ाएंगे: शाह
25 September 2017
नई दिल्ली. बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दिल्ली में दो दिन की मीटिंग चल रही है। अमित शाह ने कहा, "बीजेपी वंशवाद की राजनीति नहीं करती। अगले 5 साल में बीजेपी का हर वर्कर पार्टी और उसके काम को आगे ले जाने का काम करेगा।" बता दें कि बीजेपी ने 2019 के लोकसभा चुनाव में मिशन 360 की तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसमें शाह ने एक सीक्रेट प्लान भी बनाया है। शाम को यहां नरेंद्र मोदी भी स्पीच देंगे। हिंसा की राजनीति से नहीं डरती बीजेपी... - पीयूष गोयल के मुताबिक शाह ने कहा, "मोदी ने जो नए भारत का विजन रखा है। नए भारत का सपना देश के 125 करोड़ लोगों का सपना है। यह बीजेपी के हर कार्यकर्ता का निश्चय है। इस काम में पूरी पार्टी अगले पांच साल तक पार्टी का विस्तार, पार्टी के काम का विस्तार और जनता के हितों के काम में हम लगने वाले हैं।" - "हिंसा की राजनीति करने वाले वाम दलों और बंगाल में जो राजनीति चल रही है उसकी हम निंदा करते हैं। हिंसा से बीजेपी का कोई भी कार्यकर्ता डरने वाला नहीं है। इसका लोकतांत्रिक तरीके से जवाब देने में बीजेपी सक्षम है। केरल में बीजेपी कार्यकर्ता पदयात्रा करके जनता के साथ जुड़ेंगे और केरल की जनता का आशीर्वाद और समर्थन इस हिंसा को रोकने में लेंगे। हमारा मानना है कि हिंसा की कीचड़ कोई कितना भी फैलाए बीजेपी का कमल और निखरकर सामने आएगा।" - राहुल गांधी भारत की उपब्लिधों को नकार रहे हैं। राहुल ने भारत में वंशवाद की बात कही। भारत की जनता इसे नकारती है। बीजेपी सुशासन की राजनीति में विश्वास करती है। उन्होंने कहा कि राजनीति ऐसी हो जो जनता की सेवा करने में लगे। देश में हर व्यक्ति के जीवन को सुधार सके। उनकी आकांक्षाओं को पूरा कर सके, बीजेपी ऐसी राजनीति में विश्वास करती है। भारत की अर्थव्यवस्था बढ़ रही है। साठ करोड़ से ज्यादा गरीब अपना भविष्य उज्ज्वल होता देख रहे हैं।"
बीजेपी का हो रहा विस्तार...
- गोयल के मुताबिक शाह ने कहा, "हम सबके लिए खुशी की बात है कि पीएम ने एक साल पहले जो बात कोझिकोड में रखी थी कि बीजेपी का विस्तार पूरे देश में हो। यह जिम्मेदारी बीजेपी के कार्यकर्ताओं को सौंपी गई। इसके तहत 3 लाख से ज्यादा कार्यकर्ता बूथ पर जाकर बीजेपी के काम और नीतियों को लेकर काम कर रहे हैं।"
शाह का प्लान....
- अमित शाह ने 360 सीटें जीतने के लिए एक सीक्रेट इलेक्शन प्लान बनाया है। शाह के इलेक्शन प्लान की सीक्रेट रिपोर्ट दैनिक भास्कर के पास मौजूद है। बीजेपी 18 राज्यों की उन 123 लोकसभा सीटों पर प्लान को लागू करेगी, जहां दूसरी पार्टियां मजबूत रही हैं। बीजेपी नेशनल एग्जीक्यूटिव मीटिंग में ढाई लाख हारे हुए सरपंचों को जोड़ने का टारगेट - बीजेपी इस प्लान को सबसे पहले वहां लागू करेगी, जहां पार्टी बेहद कमजोर है। इनमें मध्य प्रदेश की रतलाम, छिंदवाड़ा, गुना, हरियाणा की रोहतक, छत्तीसगढ़ की दुर्ग, पंजाब की अमृतसर, जालंधर, लुधियाना, संगरूर, पटियाला जैसी 18 राज्यों की 123 लोकसभा सीटें हैं। ये सीटें कांग्रेस और अन्य विपक्षी पार्टियों का अभेद्य गढ़ रही हैं। - इन जगहों पर कांग्रेस और विपक्ष के बूथ वर्कर्स को बीजेपी अपने साथ जोड़ने के लिए कैम्पेन चलाएगी। साथ ही, देश की ढाई लाख पंचायतों में हारे हुए सरपंचों को भी अपने साथ जोड़ने की कोशिश करेगी। इस काम के लिए शाह ने अपनी सबसे बेस्ट टीम को जिम्मेदारी सौंपी है।
चुनाव को लेकर शाह के 3 गेम चेंजर आइडिया...
1. लोकसभा की जिन सीटों पर बीजेपी कभी नहीं जीती या पिछली बार बड़े अंतर से हार गई, ऐसी सभी सीटों पर कांग्रेस के बूथ लेवल के वर्कर्स को पार्टी में शामिल करना, ताकि कांग्रेस को जड़ से कमजोर किया जा सके। चुनाव से पहले हर बूथ पर 20 दलितों की टोली तैनात होगी। 2. 18 राज्यों की 123 लोकसभा सीटों पर अगले दो महीने में बीजेपी के प्रत्याशियों का पैनल बनाकर कैंडिडेट तय करना, ताकि उन्हें तैयारी करने का पूरा समय मिले। वे क्षेत्र में जाकर लोगों को जोड़ सकें। 3. देश की 2.5 लाख ग्राम पंचायतों में हारे सरपंच कैंडिडेट को जोड़ना। मौजूदा सरपंचों के खिलाफ एंटी इन्कम्बेंसी का डर है।
ये है चुनाव की जमीन तैयार करने की रणनीति....

# कांग्रेस के गांवों में फैले नेटवर्क को खत्म करना....
- कुछ इलाके के गांवों में कांग्रेस का नेटवर्क बीजेपी से मजबूत है। वहां कांग्रेस के बूथ वर्कर्स को बीजेपी की मेंबरशिप दिलाई जाए। मदद संघ का लोकल नेटवर्क करेगा।
# विपक्ष में असंतोष का फायदा उठाना....
- जहां विपक्ष के नेताओं में फूट है, वहां दोनों गुटों में आपसी असंतोष को और बढ़ाना, ताकि उस स्थिति का फायदा भाजपा उठा सके।
# आरटीआई-पीआईएल से आंदोलन खड़ा करना...
- जहां बीजेपी कमजोर है, वहां लोगों को जोड़ने के लिए मोदी की योजनाओं का प्रचार किया जाए। साथ ही आरटीआई और पीआईएल के जरिए आंदोलन खड़ा किया जाए।
# एनजीओ-धार्मिक संस्थाओं से मेलजोल बढ़ाना.....
- क्षेत्र के गैर सरकारी संगठन, सामाजिक काम करने वाली संस्थाओं से लगातार कॉन्टैक्ट करना। उनसे अच्छे रिश्ते बनाना, ताकि चुनाव में फायदा मिल सके।
# हर असेंबली में 5 वॉट्सऐप ग्रुप बनाना....
- हर विधानसभा क्षेत्र में 5 वॉट्सऐप ग्रुप बनाकर 1250 लोगों को सोशल वारियर के रूप में तैयार करना। हर बूथ पर 20 दलितों को मेंबर बनाकर सक्रिय किया जाए।
विपक्ष के गढ़ में मोदी के होंगे दौरे....
- शाह ने इन 123 सीटों को 5-5 के क्लस्टर में बांटा है। हर क्लस्टर में मोदी दौरा करेंगे। - 25 लोगों के अलग-अलग कलस्टर बनाकर 4 से 7 सीटों पर संगठन खड़ा करने का जिम्मा। - कांग्रेस से आए हेमंत बिस्वा सरमा को पूर्वोत्तर की सात सीटों की कमान सौंपी गई है। - कैबिनेट मंत्रियों को अलग-अलग सीटों पर पैनल तैयार करके देने का जिम्मा सौंपा है।
क्या है शाह का टारगेट?...
- अमित शाह का टारगेट कांग्रेस को न सिर्फ लोकसभा, विधानसभाओं से बाहर करना, बल्कि ग्राउंड पर उसका नेटवर्क खत्म करना है, ताकि उन स्थानों पर बीजेपी को लंबे समय के लिए मजबूत किया जा सके।


मस्जिदों में जांच करो, अजान की आवाज तेज तो नहीं: दिल्ली सरकार को NGT का ऑर्डर
21 September 2017
नई दिल्ली.नेशनल ग्रीन ट्रीब्यूनल (एनजीटी) ने दिल्ली सरकार को ऑर्डर दिया है कि राजधानी में अजान से कहीं शोर तो नहीं हो रहा, इसकी जांच कराई जाए। अब केजरीवाल सरकार ईस्ट दिल्ली की मस्जिदों में पता करेगी कि वहां लगे लाउड स्पीकर्स की आवाज लिमिट से ज्यादा तो नहीं है। बता दें कि अजान की आवाज को लेकर सिंगर सोनू निगम ने कुछ महीने पहले ट्वीट किया था। मुस्लिम संगठनों ने इस पर कड़ा विरोध जताया था। यहां तक कि सोनू के खिलाफ फतवा तक जारी हो गया। इसके विरोध में बॉलीवुड के सिंगर ने अपना सिर मुंडवा लिया था। ..
एनजीओ ने दायर की है पिटीशन.....
- एनजीटी के चेयरमैन जस्टिस स्वतंत्र कुमार ने दिल्ली सरकार और दिल्ली पॉल्यूशन कंट्रोल कमेटी (DPCC) को ऑर्डर दिया है कि नियमों की धज्जियां उड़ाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें। - बुधवार को अलग-अलग मस्जिदों की तरफ से पेश वकील ने कहा कि यहां अजान के लिए लाउड स्पीकर का इस्तेमाल तो कर रहे हैं, लेकिन आवाज लिमिट से ज्यादा नहीं होती। उनकी मंशा लोगों को परेशान करने या नॉइज पॉल्यूशन के मानकों का तोड़ने की नहीं है। - एनजीओ अखंड भारत मोर्चा ने एनजीटी में पिटीशन दायर कर आरोप लगाया है कि मस्जिदों में अवैध तौर पर लाउड स्पीकर्स के इस्तेमाल से आसपास रहने वाले लोगों की सेहत पर गलत असर पड़ रहा है।
यमुना में पड़ीं गणेश प्रतिमाओं पर भी जवाब मांगा....
- एनजीटी ने यमुना नदी में इधर-उधर बिखरी पड़ीं गणेश प्रतिमाओं पर भी बुधवार को दिल्ली सरकार और बाकी संबंधित पक्षों से जवाब तलब किया है। - इस मुद्दे पर दायर एक पिटिशन में कहा गया था कि इस संबंध में एनजीटी के आदेश लागू करवाने में दिल्ली सरकार पूरी तरह से नाकाम रही है।


82% ने माना-मुट्‌ठीभर बाबाओं के कारण सभी धर्मगुरु बदनाम होते हैं
20 September 2017
भास्कर न्यूज नेटवर्क. देश में पहली बार हुए बाबाओं के सर्वे में भास्कर के पाठकों ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया है। देशभर से सर्वे में शामिल 56 हजार 338 लोगों में से 18 फीसदी लोगों ने माना कि वे किसी न किसी बाबा में आस्था जरूर रखते हैं। हाल के दिनों में बाबाओं के बढ़ते विवाद के कारण लोगों की आस्था में कमी आई है। इस बात से 23 फीसदी लोग इत्तेफाक रखते हैं। हालांकि, 82 फीसदी लोगों ने यह माना है कि कुछ मुट्‌ठी भर बदनाम बाबाओं के कारण सभी धर्मगुरु बदनाम होते हैं। सर्वे में पता चला कि बाबाओं के प्रति सबसे ज्यादा लगाव किसानों का है। 23 फीसदी किसानों ने कहा है कि वे किसी न किसी बाबा में आस्था रखते हैं। हमने बाबाओं के चमत्कार को लेकर भी एक सवाल किया था। इसके जवाब में सिर्फ 6 फीसदी लोगों ने कहा है कि चमत्कार होते उन्होंने खुद देखा है। इसमें सबसे बड़ी संख्या दिल्ली के लोगों की है। सर्वे में शामिल दिल्ली के 25% लोगों ने बाबाओं के चमत्कार को खुद देखने की बात मानी है। चार दिन तक चले इस सर्वे से प्राप्त जानकारी का आकलन रिसर्च एजेंसी मार्केट सेपियंस से कराया गया। इसके आधार पर विशेष रिपोर्ट तैयार की गई।
कौन-सा गुण सबसे ज्यादा आकर्षित करता है?....
- सर्वे में मोटिवेशनल गुरुओं को लोगों ने सबसे ज्यादा पसंद किया है। 59% लोग इन्हें समाज के लिए बेहतर मानते हैं। इसके बाद 24% लोगों ने धर्मगुरुओं को बेहतर माना है। - देश में लोगों को बाबाओं के साथ जोड़ने का सबसे ज्यादा श्रेय दोस्तों और रिश्तेदारों को जाता है। सर्वे में 39% लोगों ने कहा कि वे अपने रिश्तेदार और दोस्तों के कहने पर पहली बार किसी बाबा के पास गए थे। हाल के दिनों में बाबाओं को लेकर बढ़े विवाद के बीच 47% लोग चाहते हैं कि मठों, मिशनरियों, मजहबी जमातों और डेरों पर निगरानी करने के मकसद से वहां सीसीटीवी लगाना जरूरी किया जाए। - वहीं, इनकी संपत्ति की जांच और जब्ती के सवाल पर 95% लाेगों ने कहा कि इसकी जांच होनी चाहिए, क्योंकि इनकी संपत्ति कई गुना बढ़ रही है जो कालाधन है। सर्वे में पता चला है कि 49% लोग पैसे और अपने काम-धंधे को लेकर बाबाओं से जुड़ते हैं। उन्हें लगता है इनके आशीर्वाद से काम अच्छा चलेगा। - भास्कर सभी का सम्मान करता है। इस सर्वे को प्रकाशित करना किसी गुरु, धर्मगुरु, समाज सुधारक या बाबा से जुड़ी आस्था को ठेस पहुंचाना नहीं है। अभी बाबाओं के विवाद पर चर्चा जारी है, एेसे में देश क्या सोच रहा है, यह जानना भी प्रासंगिक है। इसलिए सर्वे से जानिए देश की राय।
49% लोग पैसे, काम-धंधे के लिए बाबाओं से जुड़ते हैं, 73% ने माना अंधविश्वास भक्तों से ही.
- हाल ही के दिनों में बाबाओं से जुड़े एक के बाद एक कई मामले सुर्खियाें में रहे हैं। ऐसे में, भास्कर ने 15 सवालों के जरिए जाना कि इस समय लोगों का बाबाओं को लेकर नजरिया क्या है। - सर्वे में 73% लोगों ने कहा है कि अंधविश्वास बढ़ाने के लिए बाबाओं और धर्मगुरुओं के भक्त जिम्मेदार हैं। फिर भी 74% लोगों का मानना है कि बाबाओं के पास जाने से लोगों को मानसिक शांति मिलती है। इतना ही नहीं, सर्वे में 12% ऐसे लोग शामिल रहे हैं जो कहते हैं कि इनके आशीर्वाद से काम पूरे करने में भी मदद मिली है। - जब बात बाबाओं की छवि बनने की आती है तो हिमाचल प्रदेश और उत्तर प्रदेश के लोगों की सोच में विरोधाभास नजर आता है। - सर्वे में हिमाचल प्रदेश में सबसे ज्यादा 30% का मानना है कि इसकी वजह नेता, एक्टर-एक्ट्रेस और खिलाड़ी हैं। - इससे उलट उत्तर प्रदेश में 37% का कहना है कि इनकी छवि का निर्माण चमत्कारों की चर्चा से होता है। ऐसा ही अंतर बाबाओं के पास जाने की परिस्थितियों का कारण जानने पर युवाओं और बुजुर्गों की सोच में देखने को मिलता है। - 25 वर्ष से कम उम्र के 52% युवा पैसे, व्यापार या नौकरी की समस्या को लेकर बाबाओं के पास जाने की बात कहते हैं, जबकि 60 से ज्यादा की उम्र के 36% ने ही एेसी स्थिति में बाबाओं के पास जाने की बात कही। 39% लोग बाबाओं के नाम व प्रसिद्धि से आकर्षित होकर उनके पास जाते हैं।
दिल्ली-उत्तर प्रदेश की ज्यादा आस्था, राजस्थान के 95% चाहते हैं इनकी संपत्ति जब्त हो..

@ दिल्ली..
- देश के पहले बाबा सर्वे में उत्तर प्रदेश और देश की राजधानी दिल्ली की राय सबसे हटकर रही। जहां सर्वे में शामिल सिर्फ 18% लोगों ने बाबाओं में आस्था व्यक्त की।
@ उत्तर प्रदेश..
- वहीं, इससे उलट उत्तर प्रदेश में 34.76% और दिल्ली में 34.2% लोगों ने बाबाओं में अपनी आस्था जताई है। देश के औसत से यह आंकड़ा करीब दो गुना है।
@गुजरात..
- गुजरात में 31% लोगों ने धर्मगुुरुओं और 24% लोगों ने कथा वाचकों को समाज की बेहतरी के लिए सही माना है। गुजरात में ही 19% से ज्यादा लोगों ने बाबाओं के संपर्कों से अपने काम पूरे करने में मदद मिलने की बात कही है। वहीं, उनके आशीर्वाद से काम पूरे करने में मदद मिलने की बात 13% लोगाें ने कही।
@महाराष्ट्र..
- महाराष्ट्र में भक्तों को बाबाओं का सबसे ज्यादा आकर्षित करने वाला गुण चमत्कार लगता है। 38% लोग ऐसा मानते हैं। वहीं, ज्ञान से आकर्षित होने वाले 12% हैं।
@हिमाचल..
- हिमाचल प्रदेश में सबसे ज्यादा 11% लोगों ने माना कि बाबाओं के कानून से घिरने के बावजूद उनके प्रति सम्मान बना हुआ है। यह देश के लोगों की राय की तुलना में दो गुना है। हालांकि, 19% लोग किसी भी नतीजे पर पहुंचने से पहले पुलिस कार्रवाई और अदालत के फैसले का इंतजार करना चाहते हैं।
@चंडीगढ़..
- चंडीगढ़ में सबसे ज्यादा 86% लोगों का मानना रहा कि मुट्‌ठी भर बाबाओं के कारण समाज में सभी धर्मगुरु बदनाम हो रहे हैं।
@हरियाणा.
हाल ही में बाबा की गतिविधियों को लेकर सबसे ज्यादा चर्चित रहे राज्य हरियाणा में समाज में अंधविश्वास बढ़ाने के लिए 12% लोगों ने बाबा को जिम्मेदार माना। वहीं, बाबा और धर्मगुरु में आस्था के लिए 72% लोगों ने अंधविश्वास को जिम्मेदार माना।
@पंजाब..
- पंजाब में 39% लोगों की राय रही कि मठों, मिशनरियों, मजहबी जमातों और डेरों पर निगरानी के लिए सरकार को सीसीटीवी जरूरी कर इन्हें आरटीआई के दायरे में लाना चाहिए। यह देश के 47% लोगों की राय से 8% कम है।
@राजस्थान..
- सर्वे में सबसे ज्यादा संख्या में भाग लेने वाले राज्य राजस्थान से 95% ने धर्मिक संगठनों, मठों, मजहबी जमातों, मिशनरियों, डेरों की देशभर में फैली शाखाओं की संपत्ति की जांच और जब्ती का विकल्प चुना। पहली बार बाबा के पास रिश्तेदार, दोस्त और सुनकर या प्रचार से प्रभावित होकर जाने की बात 38-38% लोगों ने कही, जबकि 24% लोग ही पारिवारिक परंपरा के चलते बाबा के पास गए। पैसे, व्यापार और नौकरी की समस्या के चलते 49% लोगों ने बाबाओं के पास जाने की बात कही।
@छत्तीसगढ़.
- छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा 81% से ज्यादा लोगों का मानना रहा कि बाबाओं की बातों से तनाव के समय मानसिक शांति मिलती है, जबकि सिर्फ 2% ने माना कि जरूरत के समय उनसे आर्थिक मदद मिली है।
@बिहार..
- बिहार सेे देश की राय में राय मिलाते हुए 14.58% लोगों का मानना रहा कि महंगे प्रचार-प्रसार से बाबाओं की छवि बनी है। वहीं, 33% का मानना रहा कि बाबाओं की छवि चमत्कारों की चर्चा से बनती है। नेताओं, एक्टर-एक्ट्रेस और खिलाड़ियों के आने-जाने से छवि चमकने की राय के पक्ष में 27% लोग रहे।
@झारखंड..
- झारखंड में 4% लोगों ने माना कि उन्होंने बाबा के चमत्कार होते हुए देखे हैं। ऐसे सामने आई सर्वे में शामिल लोगों की राय
ऐसे सामने आई सर्वे में शामिल लोगों की राय..
- भास्कर ने 12 से 15 सितंबर के बीच देशव्यापी सर्वे कर जाना कि ताजा हालात में लोग बाबाओं के मुद्दे पर क्या सोच रहे हैं। जिन राज्यों में भास्कर है, वहां अखबार के जरिए सर्वे फॉर्म पहुंचाकर लोगों की राय जानी गई। - इसके अलावा मोबाइल मिस्ड काल, DainikBhaskar.com और फेसबुक पर लिंक देकर भी लोगों को सर्वे में शामिल किया गया। - इन सभी माध्यमों से 56 हजार 338 लोगों ने बाबाओं से जुड़े 15 सवालों पर अपना मत रखा। इस डाटा के एनालिसिस के आधार पर ये स्पेशल रिपोर्ट तैयार की गई है। - शहरों में रायशुमारी में एक बहुत ही इंटरेस्टिंग ट्रेंड सामने आया है। यह मोटिवेशनल-धर्म गुरु को सामाज के लिए बेहतर मानने की संख्या को लेकर है। जहां 63.87% युवा मोटिवेशनल गुरुओं के पक्ष में खड़े हैं, वहीं बुजुर्गों में यह घटकर 57.55% है। - इससे उलट धार्मिक गुरुओं को समाज के लिए बेहतर मानने वाले युवा 18.56% थे। सीनियर सिटिजन्स तक जाते-जाते संख्या 25% हो गई।


1965 की जंग के हीरो मार्शल अर्जन को ऐसे दी गई आखिरी विदाई
18 September 2017
नई दिल्ली.एयरफोर्स के इकलौते मार्शल अर्जन सिंह सोमवार को दिल्ली के बरार चौक पर पंचतत्व में विलीन हो गए। फ्लाईपास्ट और 21 तोपों की सलामी से उन्हें अंतिम विदाई दी गई। उनके सम्मान में राजधानी में राष्ट्रध्वज आधा झुका दिया गया। अंतिम विदाई देने वालों में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और तीनों सेनाओं के प्रमुख भी शामिल हुए। शनिवार को उनका निधन हो गया था। वे 98 साल के थे। हार्ट अटैक के बाद सिंह को आर्मी हॉस्पिटल लाया गया था। बता दें कि 1965 की जंग के हीरो अर्जन सिंह महज 44 साल की उम्र में एयरफोर्स चीफ बने थे। पाकिस्तान के साथ 1965 की जंग में उतरी एयरफोर्स की कमान उनके ही हाथों में थी। देश की तीनों सेनाओं में अब तक तीन मार्शल हुए हैं। अर्जन सिंह उनमें से एक थे। उन्हें 5 स्टार रैंक हासिल करने का गौरव मिला।
प्रेसिडेंट बोले- वे हीरो थे......
- प्रेसिडेंट रामनाथ कोविंद ने कहा, "भारतीय वायु सेना के बहादुर वॉरियर के निधन पर मुझे गहरा दुख है। उनके परिवार और IAF कम्युनिटी के साथ मेरी संवेदनाएं हैं। वे वर्ल्ड वार-2 के हीरो थे। उन्होंने 1965 की जंग में अपनी लीडरशिप की बदौलत देश में अपने लिए सम्मान हासिल किया।"
मोदी ने साझा की यादें.
- नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, "इंडियन एयरफोर्स के मार्शल अर्जन सिंह के निधन पर भारत में गहरा दुख है। हम देश के लिए उनके शानदार योगदान को याद रखेंगे। सिंह का फोकस IAF की ताकत को बढ़ाने पर था। उन्होंने देश की रक्षा क्षमता में बहुत इजाफा किया। मैं उनसे कुछ अरसा पहले मिला था। तबीयत खराब होने के बावजूद उन्होंने खड़े होकर सैल्यूट करने की कोशिश की, जबकि मैंने उन्हें ऐसा करने से मना किया। उनमें सैनिक अनुशासन भरा हुआ था। मेरी संवेदनाएं उनके परिवार और उन लोगों के साथ हैं, जिन्हें दुख पहुंचा है। सिंह एक बेहतरीन एयर वॉरियर और शानदार इंसान थे।" - मोदी ने कहा, "1965 की जंग में एयर मार्शल अर्जन सिंह की शानदार लीडरशिप को भारत कभी नहीं भूलेगा। ये वो मौका था जब IAF ने अपना मजबूत इरादे दिखाए।"
उनका जीवन मिसाल था- डिफेंस मिनिस्टर..
- निर्मला सीतारमण ने कहा, "अर्जन सिंह का जीवन एक मिसाल था। उन्होंने कई लड़ाइयां लड़ीं। ये भारी क्षति है। उन्होंने जिस तरह का जीवन जिया और आदर्श पेश किए उन्हें पीढ़ियों तक याद किया जाएगा।"
मार्शल कभी रिटायर नहीं होते हैं.
- देश में अब तक एयर मार्शल अर्जन सिंह, फील्ड मार्शल मानेकशॉ और केएम करियप्पा को ही 5 स्टार रैंक मिली है, मार्शल कभी सेना से रिटायर नहीं होते। अर्जन सिंह 2002 में 5 स्टार रैंक के लिए प्रमोट हुए। उन्हें पद्म विभूषण अवॉर्ड से नवाजा जा चुका है। व्हील चेयर पर आए और खड़े होकर कलाम को किया था सैल्यूट
उनका जीवन मिसाल था- डिफेंस मिनिस्टर..
- 27 जुलाई, 2015 को पूर्व राष्ट्रपति डॉ. अब्दुल कलाम के निधन के बाद उनका पार्थिव शरीर दिल्ली के पालम एयरपोर्ट पर लाया गया। तब कलाम के अंतिम दर्शन के लिए राष्ट्रपति और पीएम समेत कई नेता पहुंचे थे। लेकिन सबकी नजरें कांपते हाथों से सैल्यूट करते योद्धा अर्जन सिंह पर थीं। वे आए तो व्हीलचेयर पर थे, लेकिन कलाम को देखते ही खुद चलकर पास आए और तनकर सलामी भी दी थी।
अविभाजित भारत मेें जन्मे अर्जन सिंह..
- अर्जन सिंह का जन्म 15 अप्रैल 1919 को अविभाजित भारत के लायलपुर में हुआ था। ये जगह अब पाकिस्तान के फैसलाबाद में है। 1938 में 19 साल की उम्र में RAF क्रेनवेल में उनका सिलेक्शन एम्पायर पायलट ट्रेनिंग के लिए हुआ। उनकी पहली पोस्टिंग नॉर्थ वेस्टर्न फ्रंटियर प्रॉविंस में वेस्टलैंड वापिटी बाइप्लेंस उड़ाने के लिए हुई। वे IAF की नंबर वन स्क्वॉड्रन के मेंबर थे। उन्हें कुछ वक्त के लिए नंबर 2 स्क्वॉड्रन में भी भेजा गया था। लेकिन, जब नंबर वन स्क्वॉड्रन को हॉकर हरिकेन प्लेन मिले तो सिंह को वापस बुला लिया गया। 1944 में उन्हें स्क्वॉड्रन लीडर बनाया गया और उन्होंने अराकान कैंपेन के दौरान जापानियों के खिलाफ टीम को लीड किया। बर्मा, इम्फाल में सक्सेसफुल कैंपेन लीड करने की वजह से 1944 में सिंह को डिस्टिंगुइश्ड फ्लाइंग क्रॉस (DFC) दिया गया।
आजादी के दिन 100 प्लेन्स का फ्लाई-पास्ट लीड किया..
- 15 अगस्त 1947 को सिंह को एक और सम्मान दिया गया। उन्हें दिल्ली के लाल किले के ऊपर से 100 IAF एयरक्राफ्ट्स के फ्लाई-पास्ट को लीड करने का मौका दिया गया। विंग कमांडर प्रमोट होने के बाद सिंह यूके के स्टाफ कॉलेज में भी गए और आजादी के तुरंत बाद उन्हें अंबाला में एयर ऑफिसर कमांडिंग बना दिया गया। - 1949 में एयर कोमोडोर प्रमोट किए जाने के बाद सिंह ने एयर ऑफिसर कमांडिंग ऑफ ऑपरेशनल कमांड का जिम्मा संभाला। इसे ही बाद में वेस्टर्न एयर कमांड कहा गया। सिंह लगातार प्रमोट होते रहे और 1962 की जंग खत्म होते-होते उन्हें DCAS बनाया गया और 1963 में वे VCAS बन गए।


जिहादी हूं, अब गया में सीरियल ब्लास्ट का प्लान था: ATS से बोला आतंकी तौसिफ
15 September 2017
पटना.गुजरात के अहमदाबाद में 9 साल पहले हुए सीरियल ब्लास्ट के मास्टरमाइंड तौसिफ खान समेत 3 आतंकियों को बिहार एटीएस ने गिरफ्तार किया। तौसिफ गया के एक स्कूल में टीचर बनकर छिपा हुआ था। उसने मशहूर विष्णुपद मंदिर क्षेत्र समेत तीन जगहों पर तीर्थयात्रियों को टारगेट कर सीरियल ब्लास्ट की साजिश रच ली थी। इसके लिए पिछले कुछ दिनों से रेकी भी कर रहा था। तौसिफ आतंकी साचिश का हर अपडेट इंटरनेट कैफे से मेल कर अपने हैंडलर्स को भेज रहा था। गुरुवार को पूछताछ में आतंकी तौसिफ ने बिहार एटीएस से कहा- ''हां मैं जिहादी हूं और जिहाद करने आया हूं। टारगेट एक्सपर्ट हूं, जहां भी टारगेट किया, कामयाब रहा। अब गया में ब्लास्ट का प्लान था।'' एनआईए समेत कई एजेंसियां आतंकियों से पूछताछ के लिए गया पहुंच चुकी हैं। तीनों के आतंकी संगठन अल कायदा से जुड़े होने का शक है।
सिमी आतंकी से गया में मिला था तौसिफ....
- खुफिया एजेंसी के मुताबिक, पकड़े गए दूसरे आतंकी गुलाम सरवर का कनेक्शन सिमी से रहा है। 2008 में अहमदाबाद ब्लास्ट को अंजाम देने के बाद तौसिफ सबसे पहले गया में आकर इसी से मिला था। - वहीं तीसरा आतंकी शहंशाह उर्फ सानू खां है, जो करमौनी का रहने वाला है। गया के एक स्कूल में टीचर बनकर पनाह पाने वाला तौसिफ इस कदर कट्टरपंथी है, कि उससे जुड़ने वाला हर शख्स जेहादी बन जाता है।
साइबर कैफे से रोज भेजता था अपडेट...
- तौसिफ अपनी रोज की एक्टिविटीज का मेल के जरिए जवाब देता था। गया के साइबर कैफे से ही वह मेल भेजता था। टेक्निकल एक्सपर्ट की टीम ने एक कैफे से कंप्यूटर को जब्त किया है, जिसमें मेल तौसिफ से जुड़ी कई जानकारी हैं। शुरुआती जांच में पता चला है कि आतंकी किसी चांद नाम के हैंडलर को मेल करता था, जिनमें पाकिस्तानी नारे और आतंकवाद से जुड़ीं बातें हुआ करती थीं।
आतंकियों के टारगेट पर थीं गया की 3 जगह...
- गया की तीन खास जगहें आतंकियों के निशाने पर थीं। देश-विदेश के तीर्थयात्रियों के लिए आस्था का केन्द्र विष्णुपद मंदिर के मेला क्षेत्र, महाबोधि मंदिर के अलावा गया जंक्शन को मुख्य रूप से टारगेट पर रखा गया था। - आतंकी तौसिफ विष्णुपद मेला में ब्लास्ट की प्लानिंग कर चुका था। इसके लिए कई महीनों से मेला क्षेत्र की रेकी भी कर रहा था। गया के ही दो संदिग्धों की मदद से वह आसानी से वहां पहुंच पाता था।
12 सांसदों को भेजा था IS से जुड़ा मेल...
- पटना एडीजी एसके सिंघल के मुताबिक, गिरफ्तार आतंकियों का कनेक्शन कई सांसदों और अफसरों से होने की बात सामने आई है। तौसिफ के ईमेल से खुलासा हुआ है कि वह इंटरनेट के जरिए आतंकी संगठन IS का प्रचार कर रहा था। उसने अलग-अलग राज्यों के 12 सांसदों को आईएस से जुड़ा मेल भेजा था, जिसमें आईएस के आदर्शों को बेहतर बताया गया। - बिहार एटीएस लगातार गुजरात की एजेंसी से बात कर रही है। आतंकी तौसिफ के मोबाइल का सीडीआर खंगाला जा रहा। इससे कई बड़े खुलासे की उम्मीद है।
9 साल से गया में था तौसिफ खान, खड़ा किया IS मॉड्यूल!....
# नाम-तौसिफ खान उर्फ अतीक। उम्र-35 वर्ष। रंग गेहुंआ और दिमाग शैतानी। पता-अहमदाबाद का जूहापुरा, यूनाइटेड अपार्टमेंट (फ्लैट नंबर ए-15)...। - कभी आईएम (इंडियन मुजाहिदीन) की टॉप आतंकियों में शामिल रहे तौसिफ की यही पहचान है। इंजीनियरिंग की डिग्री लेने के बाद वह आतंक की दुनिया में पहुंच गया। ‘अहमदाबाद सीरियल ब्लास्ट’ को अंजाम देने के बाद तौसिफ भाग कर अगस्त, 2008 में गया पहुंचा। फिर डोभी थाने के करमौनी गांव में नाम बदल कर अतीक के रूप में अंडरग्राउंड हो गया। पहले से संपर्क में रहे यहां के सना खान की मदद से उसे करमौनी के मुमताज पब्लिक हाईस्कूल में टीचर की नौकरी मिल गई। - तौसिफ गणित या साइंस के अलावा बाकी सब्जेक्ट पढ़ाता था। सैलरी के नाम पर एक-दो हजार रुपए ही मिलते थे। 3 साल बाद स्कूल की नौकरी छोड़कर बच्चों को ट्यूशन पढ़ाने लगा। हालांकि, गिरफ्तारी के बाद जब उसका भंडा फूटा तो पता चला कि तौसिफ आईएसआईएस के प्रचार में लगा था। माना जा रहा है कि एजुकेशन की आड़ में उसने आईएस का गया मॉड्यूल तैयार कर लिया हो। हालांकि, एडीजी (हेडक्वार्टर) संजीव कुमार सिंघल ने कहा कि फिलहाल एजेंसियां जांच कर रही हैं।


DUSU इलेक्शन रिजल्ट: प्रेसिडेंट पोस्ट पर NSUI और सेक्रेटरी पर ABVP की जीत
13 September 2017
नई दिल्ली.दिल्ली यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन (DUSU) इलेक्शन में एनएसयूआई ने प्रेसिडेंट पोस्ट पर कब्जा कर लिया और ज्वाइंट सेक्रेटरी पोस्ट पर आगे है। वहीं, एबीवीपी को सेक्रेटरी पोस्ट पर जीत मिली है और वाइस प्रेसिडेंट पर बढ़त बनाए हुए है। वोटों की गिनती नॉर्थ कैंपस के कम्युनिटी हॉल में वोटों में चल रही है। बीजेपी की स्टूडेंट विंग एबीवीपी 4 साल से प्रेसिडेंट पोस्ट पर काबिज थी, लेकिन इस बार एनएसयूआई कैंडिडेट रॉकी तुषीद को जीत मिली। इलेक्शन के लिए मंगलवार को 43% वोटिंग हुई। इसमें 50 से ज्यादा कॉलेजों के 1 लाख 30 हजार स्टूडेंट्स ने वोट डाला। वहीं, कॉलेज यूनियन के चुनावों के नतीजे का एलान मंगलवार देर रात ही कर दिया गया। ज्यादातर में एबीवीपी को जीत हासिल हुई।अपडेट्स... - न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, एनएसयूआई के प्रेसिडेंट कैंडिडेट रॉकी तुषीद को जीत मिली। सेक्रेटरी पोस्ट पर एबीवीपी की महामेधा नागर को जीत मिली। - , फिलहाल एनएसयूआई प्रेसिडेंट और ज्वाइंट सेक्रेटरी पोस्ट पर आगे है, जबकि एबीवीपी को वाइस प्रेसिडेंट और सेक्रेटरी पोस्ट पर बढ़त मिलती दिख रही है। - DainikBhaskar.com के सूत्रों के मुताबिक, शुरुआत में प्रेसिडेंट, वाइस प्रेसिडेंट, सेक्रेटरी और ज्वाइंट सेक्रेटरी पोस्ट पर एबीवीआगे चल रही थी, लेकिन 7वें और 8वें राउंड में अचानक एनएसयूआई को प्रेसिडेंट समेत तीन सीटों पर बढ़त मिल गई। - इस बार प्रेसिडेंट पोस्ट के लिए ABVP की ओर से रजत चौधरी, NSUI की ओर से रॉकी तुषीर, आइसा के पॉल चौहा, निर्दलीय राजा चौधरी और अल्का चुनाव मैदान में हैं।
# कौन-कौन चुनाव मैदान में..
पोस्ट NSUI ABVP कौन जीता प्रेसिडेंट रॉकी तुषीद रजत चौधरी NSUI वाइस प्रेसिडेंट कुनाल सहरावत पार्थ राणा ---- सेक्रेटरी मीनाक्षी मीणा महामेधा नागर ABVP ज्वाइंट सेक्रेटरी अविनाश यादव उमा शंकर ----
ABVP जश्न की तैयारियों में.
- पिछले चार साल से डूसू इलेक्शन में परचम लहराने वाली एबीवीपी नतीजों से पहले अपनी जीत पक्की मान रही है। इसलिए पहले से जश्न की तैयारी भी कर ली गई है। - बता दें कि पिछले साल एबीवीपी ने प्रेसिडेंट, वाइस प्रेसिडेंट और सेक्रेटरी पोस्ट पर कब्जा किया था। जबकि एनएसयूआई को ज्वाइंट सेक्रेटरी पोस्ट पर जीत मिली थी।
ज्यादातर कॉलेज काउंसिल में ABVP की जीत.
- डूसू के अलावा कॉलेज काउंसिल के चुनावों में एबीवीपी ने जीत दर्ज की है। कॉलेज काउंसिल के नतीजे मंगलवार को ही देर रात घोषित कर दिए गए। कुल 18 में से 10 कालेजों में प्रेसिडेंट पोस्ट पर एबीवीपी का कब्जा रहा। इसके अलावा 8 कॉलेजों में वाइस प्रेसिडेंट, 9 कॉलेजों में सेक्रेटरी, 6 कॉलेजों में असिस्टेंट सेक्रेटरी पोस्ट पर एबीवीपी के कैंडिडेट्स ने बाजी मारी। - विवेकानंद लेडी कॉलेज की सातों सीटों पर एबीवीपी ने जीत हासिल की है। एबीवीपी ने इसे राष्ट्र की जीत बताया। वहीं, खालसा कॉलेज में इस बार भी शिरोमणी अकाली दल की स्टूडेंट विंग (सोई) का दबदबा रहा। साेई ने सभी छह सीटों पर जीत हासिल की।
PGDAV में पहली बार स्मार्ट कार्ड का इस्तेमाल..
- डीयू के पीजीडीएवी कॉलेज (सांध्य) ने वोट देने वाले कॉलेज के स्टूडेंट्स के लिए स्मार्ट कार्ड जारी किया था। बिना इसके किसी भी स्टूडेंट्स को इंट्री नहीं दी गई। प्रिंसिपल डॉ. रवींद्र कुमार गुप्ता ने बताया कि ऐसा प्रयोग पहली बार किया गया।


पान की पीक जमीन पर थूककर हमें वंदे मातरम् बोलने का हक नहीं: मोदी
11 September 2017
नई दिल्ली.नरेंद्र मोदी ने सोमवार को देशभर की यूनिवर्सिटी और कॉलेजों के स्टूडेंट्स को सम्बोधित किया। मोदी ने कहा कि दुनिया को 2001 से पहले 9/11 के महत्व के बारे पता नहीं था। 125 साल पहले इसी दिए स्वामी विवेकानंद ने शिकागो की विश्व धर्म संसद में ऐतिहासिक भाषण देकर सबको चौंका दिया था। सफाई पर मोदी ने कहा, ''पान की पिचकारी धरती पर फेंकने वालों को वंदे मातरम् कहने का हक नहीं है। गांधीज-नेहरू, विवेकानंद, भगत सिंह के सपनों का हिंदुस्तान बनाने की जिम्मेदारी हमारी है। आज भारत को देखने का दुनिया का नजरिया बदल चुका है।
विवेकानंद में एक ताकत थी, एक आग थी...
मोदी ने कहा, "मैं युवा साथियों का अभिनंदन करता हूं। आज 11 सितंबर है। विश्व को 2001 से पहले ये पता नहीं था कि 9/11 का महत्व क्या है। दोष दुनिया का नहीं था, उन्हें ये पता ही नहीं था। दोष हमारा था कि हमने ही उसे भुला दिया था। और हम न भुला देते तो शायद 21वीं सदी का 9/11 नहीं होता।" सवा सौ साल पहले भी एक 9/11 था, जिस दिन एक नौजवान ने, करीब-करीब आपकी उम्र का, गेरुआ कपड़ों में, जिसकी किसी ने कल्पना नहीं की होगी। गुलाम भारत में उसके चिंतन और भाषण में ये कहीं नहीं दिखती थी।" - "हजार साल की गुलामी के बाद भी उसके मन में विचार उमड़ रहे थे। हमारे देश में ये बात है कि चाहे कितनी भी नेगेटिव बातें क्यों न हों, इस महापुरुष में आखिर कौन सी ताकत थी कि उसके अंदर आग धधक रही थी। और वो दुनिया को एक सार्थक रास्ता दिखाने का प्रयास करता है।" - "दुनिया को ये पता भी नहीं था कि लेडीज एंड जेंटेलमेंट के अलावा भी कोई शब्द हो सकते हैं। लेकिन जिस वक्त माई ब्रदर्स एंड सिस्टर्स शब्द निकले, हर किसी का दिल जीत लिया।"
विवेकानंद ने हमेशा भारत का महिमामंडन किया.
- मोदी ने कहा, "इस महापुरुष ने पल दो पल में हजारों सालों में पनपी सभ्यताओं को अपना बना लिया था। 21वीं सदी की शुरुआत के इस 9/11 में उन्होंने प्रेम और करुणा का संदेश दिया था। उसी अमेरिका में उसी दिन हमला हुआ। तब सबको याद आया कि भारत के दिखाए रास्ते पर न चलकर किस तरह से विकृतिया आ जाती हैं।" - "विवेकानंद जी के दो रूप देखने को मिलते हैं। जहां भी गए पूरे विश्वास के साथ भारत के महिमामंडन करने में कभी थकते नहीं थे। दूसरे रूप में जब भारत में बात करते थे तो हमारे समाज की बुराईयों पर कठोराघात करते थे। आवाज उठाते थे। तब पूजा-पाठ, अंध परंपराएं थीं।" - "एक 30 साल का नौजवान ऐसे वक्त में ये कहने कि हिम्मत दिखाता था कि पूजा-पाठ से कोई भगवान नहीं मिलता है। जाओ गरीबों की सेवा करो।"
आज हम लड़कियों को सम्मान से देखते हैं क्या?.
- मोदी ने कहा, "संत परंपरा में वे गुरु खोजने नहीं निकले थे। वे सिर्फ सत्य की खोज कर रहे थे। रामकृष्ण परमहंस उन्हें मां काली के पास भेजते हैं। वो कौन सा लौह तत्व होगा उनके अंदर, जिन्होंने मां काली से भी कुछ नहीं मांगा।" - "अमेरिका में ब्रदर्स एंड सिस्टर्स कहने वाले विवेकानंद की तरह हम आज भारत में लड़कियों को आदर से देखते हैं क्या? जो देखते हैं उन्हें सौ बार नमन करता हूं। अगर नहीं देखते हैं तो विवेकानंद के शब्दों पर हमें तालियां बजाने का हक नहीं है। हम सोंचे कि जन सेवा प्रभु सेवा है। 30 साल का एक नौजवान दुनिया में जय जयकार करके आया हो।" - "उस वक्त दो घटनाएं हुई। एक ये और दूसरी जब रवींद्रनाथ टैगोर को नोबेल प्राइज मिला। दोनों बंगाल की संतान थीं। मुझे गर्व होता है कि भारत, श्रीलंका और बांग्लादेश का राष्ट्रगान बनाने वाले मेरे देश के थे।"
...तो वंदेमातरम कहने का हक नहीं.
- मोदी ने कहा, "पूरे हिन्दुस्तान से पूछ रहा हूं कि क्या हमें वंदेमातरम् कहने का हक है। मैं जानता हूं कि मेरी बात हजारों लोगों को चोट पहुंचाएगी। हम लोग पान खाकर भारत मां थूंके और कूड़ा कचरा फेंके और फिर वंदेमातरम् बोले, इसके लिए देश में पहला हक किसी को है तो भारत मां के उन सच्चे लोगों को है जो सफाई करते हैं।" - "इसलिए हम ये जरूर सोचें कि ये हमारी भारत माता सुजलाम सुफलाम भारत माता है। हम सफाई करें या नहीं, लेकिन गंदगी करने का हक नहीं है। गंगा की सफाई करें, स्नान करें लेकिन कोई ये सोचता है कि इसमें कचरा ना डालें। अगर आज विवेकानंद होते तो क्या हमें ये सब करने पर नहीं डांटते?" - "आज हम स्वस्थ हैं क्योंकि कोई सफाई करने वाला कर्मचारी हमारे आसपास है। इसीलिए मैंने बोल दिया पहले शौचालय फिर देवालय। बहुत लोगों ने मेरे बाल खींच लिए। मुझे खुशी है कि देश में आज ऐसी भी बेटियां हैं, जो शौचालय नहीं होने पर शादी नहीं करती हैं।" - "स्वामी विवेकानंद ने लोगों को देश की ताकत बताई। हिन्दुस्तान को दुनिया सांप-सपेरों का देश समझते थे। अहम ब्रह्मास्मि और कृणवंतो विश्व आर्यम ये आर्यम शब्द का मतलब है कि हम दुनिया को सुसंस्कृत करेंगे।" - "विवेकानंद की सफलता का भाव ये था कि उनके अंदर आत्मसम्मान और देश के गौरव का भाव था। तभी देश को रिप्रेजेंट कर पाए। आज हम कोई काम करने जाते हैं तो पहले सोचते हैं कि लगता नहीं है कि ये मुझसे हो पाएगा।"
कुछ लोग मेक इन इंडिया का विरोध करते हैं
- मोदी ने कहा, "जब मैं मेक इन इंडिया कहता हूं तो कई लोग इसका विरोध करते हैं। अगर कोई विवेकानंद और जमशेद जी टाटा के बीच पत्र व्यवहार को देखें तो आप पाएंगे कि विवेकानंद उनसे कहते हैं कि भारत में उद्योग लगाओ ना।" - "देश में कृषि को वैज्ञानिक ढंग से करने के लिए स्वामीजी उस दौर में करते थे। पहला इंस्टीट्यूट उन्हीं के नाम पर है।" - "आज आचार्य विनोबा भावे की भी जयंती है। हम पंडित दीनदयाल उपाध्याय का शताब्दी समारोह मना रहे हैं। विनोबा जी के करीबी थे दादा धर्माधिकारी जी।" - "उन्होंने लिखा है कि एक युवा सिफारिश के लिए आया तो पूछा कि तुम्हें क्या आता है तो बोला मैं ग्रेजुएट हूं। पूछा टाइपिंग, खाना बनाना आता है तो फिर बोला मैं तो ग्रेजुएट हूं। इसीलिए विवेकानंद ने कहा है कि इंसान के दिल दिमाग में लाइब्रेरी भरी पड़ी है, जो पांच स्किल्स को लेकर जीता है। उसी का महत्व है।" - "उन्होंने स्किल डेवलपमेंट पर जोर दिया। हमने यही किया है, इसके लिए अलग से एक मिनिस्ट्री बनाई। मेरे देश का नौजवान नौकरी लेने वाला नहीं, देने वाला बनना चाहिए।"
समाज के अंतिम व्यक्ति को भी फायदा मिले.
- मोदी ने कहा, "पंडित दीनदयालजी ने भी अंत्योदय की बात कही थी, वे समाज के आखिरी छोर पर बैठे व्यक्ति को फायदा पहुंचाने की बात करते थे। विवेकानंद जी का सपना था कि भारत एक दिन विश्व गुरु बनेगा। अगर हम रूल फॉले करेंगे तब।" - "आज विवेकानंद, विनोबा भावे और भयानक 9/11 हादसे को याद करने का दिन है। नदियों को मां और पेड़ पौधों को पूजने वाले हम लोग संकटों को दूर करने के लिए कोशिश करें। लेकिन मेरे नौजवानों 2022 में रामकृष्ण मिशन के 125 साल, आजादी के 75 साल पूरे होने पर संकल्प लें।" - "हमारे देश में कॉलेजों की छात्र राजनीति करने वाले लोगों ने चुनाव में कभी कैंपस की सफाई की बात नहीं कहीं। आज देख सकते हैं कि छात्र राजनीति कहां से कहां पहुंच गई है। चुनाव के बाद वहां कचरा पड़ा होता है। अगर गांधी, विवेकानंद के सपनों का भारत बनाना है तो सफाई का संकल्प लेना होगा। अगर सवा सौ करोड़ देशवासी एक कदम चलें तो हिन्दुस्तान सवा सौ करोड़ कदम चलेगा।"
किसी भी डे मनाने का विरोध क्यों?
- मोदी ने कहा, "मैंने देखा है कि कुछ लोग कॉलेजों में डे मनाते हैं, आज रोज डे है। कुछ लोग इसका विरोध करते हैं। मैं विरोधी नहीं हूं। कॉलेज विचार व्यक्त करने का स्थान है।" - "क्या हरियाणा का कॉलेज तय करता है कि आज तमिल डे या पंजाब का कॉलेज केरल डे मनाएगा। वहां की संस्कृति को जिएं। क्या इससे एक भारत श्रेष्ठ भारत नहीं बनेगा। हम देश की हर भाषा और लोगों के सम्मान का भाव पैदा करनी चाहिए। हम पंजाब के सिख गुरुओं का डे भी मना सकते हैं। हम रोबोट नहीं बन सकते। क्रिएटिविटी के बिना जीवन संभव नहीं है।" - "विवेकानंद कुए के मेंढक की कथा सुनाते थे। हम जय जगत वाले लोग हैं। उपनिषद् से उपग्रह तक की हमारी यात्रा पूरी हो गई है। हम कभी डरे नहीं हैं। जो भी आया उसे गले लगा लिया। मैं दूसरे देशों में जाता हूं तो देखता हूं कि हिन्दुस्तान को देखने का दुनिया का नजरिया बदल चुका है।" - "ये ताकत राजनीति से नहीं आप लोगों से हैं। हमें अपने अंदर की बुराइयों से लड़ना है। हमें देश को सबसे आगे रखना है। क्यों न मेरा नौजवान इसमें भागीदार बनें।"
स्पीच के लिए उत्सुक हूं
- स्पीच से पहले मोदी ने रविवार को ट्वीट कर बताया, ''कल यंग इंडिया-न्यू इंडिया के तहत स्टूडेंट्स को संबोधित करने के लिए उत्सुक हूं। स्वामी विवेकानंद के विचारों के प्रेरणा मिलती है। हमें वक्त रहते उठकर जागने और सपनों को पूरा करने की इच्छा शक्ति मिलती है। उन्होंने युवा शक्ति को देश को आगे ले जाने के लिए बड़ी ताकत बताया था।'' - मोदी की इस स्पीच को 'Young lndia, New lndia- A Resurgent Nation: from Sankalp to Sidhhi' टाइटल दिया गया है। - बता दें कि 1893 में स्वामी विवेकानंद ने शिकागो (अमेरिका) के विश्व धर्म संसद में ऐतिहासिक भाषण दिया था। सोमवार को इसके 125 साल पूरे हो रहे हैं। माना जा रहा है कि पीएम इस दौरान यंग इंडिया के लिए विवेकानंद की सीखों पर मैसेज दे सकते हैं। - लाइव स्पीच सुनने के लिए एचआरडी मिनिस्ट्री ने भी एक लिंक जारी किया है। इसके अलावा यूजीसी ने लाइव टेलिकास्ट के लिए सभी यूनिवर्सिटी और कॉलेजों को जरूरी इंतजाम पहले से करने का ऑर्डर दिया था।


दिल्ली का सबसे महंगा बंगला, 476 करोड़ में बिका और 22 करोड़ में हुई रजिस्ट्री
9 September 2017
नई दिल्ली.डीएलएफ के चेयर मैन केपी सिहं की पोती डॉ. अनुष्का सिंह ने नई दिल्ली नगर पालिका (लुटियन जोन) के पृथ्वीराज रोड पर दिल्ली एनसीआर में 476.50 करोड़ रुपए में दिल्ली की सबसे मंहगा बंगला खरीदा है। बताया जा रहा है कि दिल्ली एनसीआर में अब तक किसी भी घर को खरीदने के लिए यह सबसे अधिक कीमत है।
डीएलएफ चेयरमैन केपी सिंह की पोती ने खरीदा.
यह बंगला 7,143 मीटर में बना हुआ है और इसका बिल्ट अप एरिया 780 वर्ग मीटर का है जिसे दिवंगत एयर चीफ मार्शल प्रताप चंद लाल का परिवार बेच रहा है। बताया जा रहा है कि यह प्लॉट 6.36 लाख रुपए प्रति वर्ग मीटर के दर पर बेचा गया इस बंगले की रजिस्ट्री के लिए 22 करोड़ रुपए की स्टैंप ड्यूटी पेड पूर्व एयर मार्शल के तरफ से की गई है। बताया जा रहा है कि सर्कल रेट के दर से इस बंगले की कीमत 554 करोड़ रुपए होगी
पहले से हैं इनके यहां कोरोड़ों के दो बंगले.
चर्चा है कि इस बंगले की डील सर्कल रेट से कम दर पर हुई है। इस बारे में डीएलएफ के चेयरमैन से लेकर डा. अनुस्का तक इस बंग्ला और खरीद के रकम पर बात करने से दूरी बना रखी है। ज्ञात हो कि इससे पहले भी केपी सिंह की बेटी रेणुका तलवार ने वर्ष 2016 में 435 करोड़ रुपए में पृथ्वीराज सिहं रोड पर ही 4,925 मीटर में बना बंगला खरीदी थी। उस समय इस बंगले के प्रति वर्ग मीटर की कीमत 8.8 लाख रुपए लगाई गई थी। रेणुका ने इस बंगला को डीटीआई इंफोकॉर्प के मैनेजिंग डायरेक्टर कमल तनेजा ने बेचा था। गौरतलब है कि डीएलएफ के चेयरमैन केपी सिंह के पास डा. अब्दुल कलाम आजाद मार्ग पर दो बंगले जिसकी कीमत करोड़ों में है।


मोदी ने म्यांमार के काली मंदिर में की पूजा, बहादुर शाह की मजार पर भी गए
7 September 2017
यंगून.नरेंद्र मोदी का तीन दिवसीय म्यांमार दौरा खत्म हो गया। गुरुवार को उन्होंने यहां 2500 साल पुराने श्वेदागॉन पैगोडा का दर्शन किया। वे बहादुर शाह जफर की मजार पर भी गए। इससे पहले, मोदी ने काली बाड़ी मंदिर में पूजा की। फिर आंग सान म्यूजियम गए। म्यूजियम में मोदी के साथ स्टेट काउंसलर आंग सान सू की भी थीं। बुधवार को मोदी बागान गए थे, जहां उन्होंने आनंद मंदिर का दौरा किया था। बाद में मोदी ने यंगून में भारतीय कम्युनिटी के लोगों को संबोधित किया था।
अंग्रेजों ने यंगून में ही बहादुर शाह को कैद किया था...
- बहादुर शाह जफर की मौत यंगून में ही हुई थी। मोदी ने बहादुर शाह की मजार पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। म्यांमार में ही 1857 के विद्रोह के अगुआ और आखिरी मुगल बादशाह बहादुरशाह जफर को कैद कर रखा गया था और उन्हें यहीं दफनाया भी गया। अंग्रेजों ने गुलाम भारत के कई स्वतंत्रता सेनानियों को यंगून (पुराना नाम रंगून) और मांडले की जेलों में कैद किया था। - मोदी से पहले पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम, पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, पूर्व विदेश मंत्री जसवंत सिंह और कांग्रेस लीडर सलमान खुर्शीद भी बहादुर शाह जफर की मजार पर जाकर श्रद्धा सुमन अर्पित कर चुके हैं।
पैगोडा कैम्पस में बोधि पौधा भी लगाया.
- श्वेदागॉन पैगोडा को म्यांमार की सांस्कृतिक विरासत का शिखर कहा जाता है। मोदी ने पैगोडा के परिसर में एक बोधि पौधा भी लगाया। पैगोडा में भगवान बुद्ध के बाल और अन्य पवित्र अवशेष सुरक्षित रखे गए हैं। पैगोडा यंगून में रॉयल लेक के वेस्ट में स्थित है। पैगोडा की शुरुआत में लंबाई 8.2 मीटर थी, लेकिन आज ये 110 मीटर लंबा है। इसमें सोने की 100 प्लेट्स लगी हैं। स्तूप के शिखर पर 4,531 लगे हैं, इनमें सबसे बड़ा हीरा 72 कैरेट का है।
हमारी सीमाएं ही नहीं, भावनाएं भी जुड़ी हुई हैं..
बुधवार को भारतीय कम्युनिटी को एड्रेस करते हुए मोदी ने कहा था, "इस जगह का भारत से पुराना नाता भी है। मोदी ने कहा, "हमारी सीमाएं ही नहीं, भावनाएं भी जुड़ी हुई हैं। मोदी ने कहा- हम देश के लिए बड़े और कड़े फैसले लेते हैं। हमारे लिए दल से बड़ा देश है।"
दोनों देशों के बीच 11 करार..
- बुधवार को मोदी ने ने स्टेट काउंसर आंग सान सू की से पहली बाइलेट्रल बातचीत की। - दोनों देशों ने मैरिटाइम सिक्युरिटी और रिश्तों को मजबूत करने के लिए 11 समझौतों पर साइन किए। - भारत और म्यांमार के बीच डेमोक्रेटिक इंस्टीटयूट्शन को और मजबूत करना, इलेक्शन कमीशन एंड यूनियन इलेक्शन ऑफ म्यांमार, नेशनल लेवल इलेक्टोरल कमीशन ऑफ म्यांमार के मुद्दे पर हुए। - 2017 से 2020 के बीच कल्चर एक्सचेंज प्रोग्राम, म्यांमार प्रेस काउंसिल एंड प्रेस कॉउंसिल ऑफ इंडिया के बीच सहयोग, आईटी स्किल को बढ़ावा देने के लिए भारत और म्यांमार सेंटर स्थापित करने के लिए एग्रीमेंट और हेल्थ एंड मेडिसिन शामिल हैं। - दोनों देशों ने यामेंथिन में वुमंस पुलिस को ट्रेनिंग सेंटर को अपग्रेड करने पर भी करार किया।
भारत-चीन के लिए अहम है म्यांमार.
- म्‍यांमार को भारत के लिए साउथ-ईस्ट एशिया का एंट्री गेट माना जाता है। - चीन के लिए भी यह रणनीतिक अहमियत रखता है, ऐसे में भारत ही नहीं, बल्कि चीन भी यहां अपना दायरा बढ़ाने में जुटा हुआ है। म्‍यांमार चीन के वन बेल्‍ट-वन रोड (OBOR) प्रोजेक्ट का एक अहम हिस्सा है। लिहाजा भारत-चीन दोनों चाहेंगे कि म्‍यांमार उनके साथ खड़ा हो।


मोदी का मिशन-350+, यूपी-बिहार समेत तटीय राज्यों की 270 सीटों पर रखा फोकस
4 September 2017
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2019 के चुनाव में जाने से पहले अपनी ड्रीम टीम चुन ली है। इसमें उन्होंने जातिगत, क्षेत्रीय और चुनावी राज्यों को एक साथ साधने की कोशिश की है। एक साथ चार ब्यूरोक्रैट को लाकर अटके पड़े विकास कार्यों मे तेजी लाने का भी संकेत दिया है।
पढ़िए पूरा एनालिसिस...

#उत्तर प्रदेश:
- दोनों राज्यों में 120 लोकसभा सीट हैं। यूपी से 12 और बिहार से मंत्री। यूपी में सवर्ण मतदाताओं को साधने की कोशिश। - ब्राह्मण नेता कलराज मिश्र और महेंद्र नाथ पांडे के इस्तीफे लिए गए। पर महेंद्र नाथ पांडे को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया। - गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रतिद्वंद्वी राज्यसभा सांसद शिव प्रताप शुक्ला को मंत्री बनाया गया है। - जाट नेता संजीव बाल्यान की जगह उन्हीं की कम्युनिटी से आने वाले सत्यपाल सिंह को मंत्री पद में जगह दी गई।
#बिहार:
-बिहार से आर के सिंह और अश्विनी कुमार चौबे को मंत्री बनाया गया है। सिंह राजपूत और चौबे ब्राह्मण समाज से आते हैं। यानी सवर्ण वोटरों को साधने की कोशिश। - पार्टी का यहां पिछड़ों-दलितों में पकड़ रखने वाले जदयू, लोजपा, रालोसपा व हम से गठबंधन है। यानी यूपी की तर्ज पर सवर्ण, पिछड़े और दलितों का मजबूत संगठन बनाने की कोशिश।
#दक्षिण और तटीय क्षेत्रों में फोकस
- भाजपा ने 120 ऐसी सीटों पर फोकस किया है, जिसमें उसने कभी जीत हासिल नहीं की है। इसमें ज्यादातर सीटें दक्षिण और तटीय इलाकों से हैं। - ओडिशा के धर्मेंद्र प्रधान, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश से संबंध रखने वाली निर्मला सीतारमण को रक्षा मंत्री बनाया है। इससे वो तीसरी बड़ी नेता हो गई हैं।
#मोदी के सामने 4 बड़ी चुनौतियां
1. रेल को पटरी पर लाना: दो साल में 346 रेल हादसे और 277 मौतें। बुलेट ट्रेन शुरू करना। इसलिए प्रभु की जगह गोयल को जिम्मेदारी। 2. गंगा सफाई: 20 हजार करोड़ का मिशन। 12,500 करोड़ की 160 परियोजनाएं मंजूर हो चुकी हैं, पर 40 ही अब तक पूरी हो पाई। 3. नौकरियां: हर साल एक करोड़ नौकरी देने का वादा। पर सफलता नहीं मिली। 4. रक्षा: पाकिस्तान और चीन से भी निपटने की चुनौती। अरुण जेटली अतिरिक्त प्रभार के तौर पर देख रहे थे। सेना का मॉडर्नाइजेशन करना।
#76 में से 73 कैबिनेट मंत्रियों की कुल संपत्ति 952 करोड़ रुपए, औसत 12.5 करोड़
- मोदी कैबिनेट के 9 नए मंत्रियों में से 7 की कुल संपत्ति 36.36 करोड़ रुपए है। यानी इनकी औसत संपत्ति 5.19 करोड़ है। दो मंत्री अभी सांसद नहीं हैं। इस कारण उनकी संपत्ति सार्वजनिक नहीं है। - इनमें सबसे अमीर मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत (14 करोड़) और सबसे कम संपत्ति (87 लाख) विरेंद्र कुमार की है। - पिछली मोदी कैबिनेट के 78 मंत्रियों की कुल संपत्ति करीब 1009 करोड़ रु. थी। मौजूदा 76 में से 73 मंत्रियों की संपत्ति 952 करोड़ और औसत 12.53 करोड़ है। पिछली कैबिनेट से 57 करोड़ रुपए कम। - मोदी सरकार के 43 मंत्रियों की उम्र 60 साल या इससे ज्यादा है। जबकि, पीएम मोदी समेत सभी कैबिनेट मंत्रियों की औसत उम्र 59.19 साल है। - विरेंद्र सिंह और रामविलास पासवान की उम्र 71 साल। इनके अलावा 17 और मंत्री 65 या ज्यादा साल के हैं मंत्रिमंडल में। - 60 से 65 साल तक के 24 मंत्री हैं। 50 या इससे ज्यादा उम्र के 20 मंत्री हैं। - 50 साल से कम के 12 मंत्री हैं। सबसे कम 36 साल की मंत्री अनुप्रिया पटेल हैं। - मोदी की उम्र 66 साल है। इनके अलावा कैबिनेट में 7 और ऐसे मंत्री हैं, जिनकी उम्र 66 साल है।
#उम्र- मोदी कैबिनेट की औसत उम्र 59.19 साल
- मोदी के 76 सदस्यीय मंत्रिमंडल की औसत उम्र 59.19 साल है। जबकि यूपीए-2 के 77 सदस्यीय मंत्रिमंडल की औसत उम्र 65.3 साल थी। - यानी मोदी कैबिनेट अपनी पूर्ववर्ती कैबिनेट से 6.11 साल युवा है।
#वुमन पावर- मोदी कैबिनेट में 22% महिलाएं
- 76 सदस्यीय मोदी मंत्रिमंडल में 27 कैबिनेट मंत्री हैं। इनमें से छह महिलाएंं हैं। यानी 22%। वैसे मंत्रिमंडल में 9 महिलाएं हैं। - यानी 11.8%। जबकि यूपीए-2 सरकार में 77 लोगों की मंत्रिपरिषद में सिर्फ 7 महिलाएं थीं।
#क्राइम: 21 मंत्रियों के खिलाफ केस, पिछली बार से तीन कम
- पिछली मोदी कैबिनेट में 78 में से 24 मंत्रियों के क्रिमनल केस चल रहे थे। इस नई कैबिनेट में 76 में से 21 मंत्रियों के खिलाफ क्रिमनल केस हैं। - 7 नए मंत्रियों में से सिर्फ एक मंत्री खिलाफ क्रिमनल केस है। शिव प्रताप शुक्ला पर दो केस दर्ज हैं।
#मोदी ने शेखावत को 2 मिनट दिए थे, पर 30 सेकंड में बात रख जीता दिल
- गजेंद्र सिंह शेखावत क्षेत्र की समस्या लेकर मोदी के पास गए थे। दो मिनट का वक्त मिला, पर 30 सेकंड में ही बात पूरी कर दी। - मोदी ने पूछा तो सोशल मीडिया के जरिये युवाओं को जोड़कर नए भारत निर्माण की योजना बताई। - मोदी करीब 7 मिनट तक उन्हें सुनते रहे। उसी शाम पीएमओ से फोन आया। बाद में प्रजेंटेशन के दौरान वे मोदी की निगाह में आए। - Quora पर शेखावत के 55,600 फॉलोअर हैं। ओबामा भी पीछे हैं।


मोदी सरकार में तीसरा बड़ा फेरबदल, 9 मंत्रियों की होगी छुट्‌टी
2 September 2017
नई दिल्ली ।मोदी सरकार में रविवार सुबह तीसरा बड़ा फेरबदल होगा। करीब 9 मंत्रियों की छुट्‌टी होगी। नए मंत्री रविवार सुबह 10 बजे शपथ लेंगे। इनमें एनडीए के नए नवेले सहयोगी जदयू और अन्नाद्रमुक के भी नेता शामिल रहेंगे। शीर्ष आधिकारिक सूत्रों के अनुसार राष्ट्रपति भवन में सुबह 10 बजे शपथ ग्रहण समारोह की प्रक्रिया शुरू करने को कहा गया है। ..
अभी तक हो चुके है इतने इस्तीफे
- शुक्रवार शाम श्रम एवं रोजगार मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बंडारू दत्तात्रेय ने भी इस्तीफा दे दिया। अभी तक बंडारू के अलावा राजीव प्रताप रूड़ी, संजीव कुमार बालियान, फग्गन सिंह कुलस्ते और महेंद्र नाथ पांडेय भी इस्तीफा दे चुके हैं। वहीं, उमा भारती और कलराज मिश्र ने भी इस्तीफे की पेशकश की है। कम से कम दो और इस्तीफों की अटकलें हैं। - भाजपा अध्यक्ष अमित शाह अभी संघ की बैठक में वृंदावन गए हैं। वह शनिवार शाम लौटेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शाह शनिवार शाम बैठक कर नए मंत्रियों के नाम फाइनल करेंगे। शपथ ग्रहण के तुरंत बाद रविवार दोपहर 12 बजे मोदी चीन रवाना हो जाएंगे। मंत्रिमंडल में प्रधानमंत्री सहित 73 मंत्री हैं। यह संख्या 81 तक हो सकती है।
मोदी के नए मंत्री..
- मंत्रिमंडल में कुछ पद खाली हैं, जबकि कुछ वरिष्ठ मंत्रियों के पास दो-दो मंत्रालय हैं। अरुण जेटली वित्त और रक्षा मंत्रालय संभाल रहे हैं। - हर्षवर्धन, स्मृति ईरानी और नरेंद्र सिंह तोमर के पास भी अतिरिक्त कार्यभार है।
सुरेश प्रभु बन सकते हैं पर्यावरण मंत्री...
- लगातार बढ़ते रेल हादसों से विपक्ष के निशाने पर आए रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने प्रधानमंत्री मोदी के सामने इस्तीफे की पेशकश की थी। - सूत्रों के अनुसार उन्हें पर्यावरण मंत्रालय सौंपा जा सकता है। रेल मंत्रालय परिवहन मंत्री को दिया जा सकता है। - रेलवे को परिवहन मंत्रालय के साथ ही जोड़ा जा सकता है। इस्पात मंत्री बीरेंद्र सिंह सहित कुछ और मंत्रियों के भी पोर्टफोलियो बदले जा सकते हैं।
मंत्रियों के कामकाज का ऑडिट कर लिए गए इस्तीफे..
-प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने मंत्रियों के काम का ऑडिट किया था। सबका रिपोर्ट कार्ड तैयार किया गया। - इसमें मंत्रालय से जुड़ी योजनाएं लागू करने से लेकर पार्टी की जिम्मेदारियों का लेखा-जोखा शामिल था। - एक्सल शीट पर तैयार इस आॅडिट के आधार पर ही कैबिनेट में फेरबदल किया जा रहा है।


देश के बड़े मुस्लिम संगठनों ने की अपील, बकरीद पर सड़कों पर कुर्बानी न दें
30 Aug 2017
नई दिल्ली. देश के सभी बड़े मुस्लिम संगठनों ने समुदाय के लोगों से अपील की है कि बकरीद के दौरान सड़कों पर पशुओं की कुर्बानी न दें और साफ-सफाई बनाए रखें। दूसरे धर्मों को मानने वालों की आस्था का भी सम्मान करें और ऐसा कुछ भी न करें, जिससे लोगों को शिकायत का मौका मिले। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड, जमात-ए-इस्लामी, जमीयत उलेमा-ए-हिंद, ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिस-ए-मुशवरत और मरकाजी जमियत अहले हदीस ने साझा बयान में मुस्लिम समुदाय से यह अपील की है। इसमें कहा गया है, ‘पशुओं की कुर्बानी सड़कों के बजाय खुली और साफ-सुथरी जगह पर करें। बकरीद 2 सितंबर को देशभर में मनाई जानी है।


असेंबली बाइपोल: दिल्ली की बवाना सीट AAP की झोली में, गोवा में पर्रिकर जीते
28 Aug 2017
नई दिल्ली.आंध्र प्रदेश, गोवा और दिल्ली की चार असेंबली सीटों पर हुए उपचुनाव के नजीते सोमवार को आए। दिल्ली में बवाना सीट पर 2 साल बाद आम आदमी पार्टी को फिर से जीत मिली। आप कैंडिडेट रामचंद्र ने बीजेपी के वेदप्रकाश को 24 हजार वोट से हराया। पार्टी से निकाले गए पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने तंज कसते हुए अरविंद केजरीवाल को जीत की बधाई दी। वहीं, गोवा की दोनों सीटें बीजेपी के खाते में आईं। पणजी में सीएम मनोहर पर्रिकर और वालपेई में विश्वजीत राणे को जीते। उधर, आंध्र की नंदयाल सीट पर टीडीपी के भुमा ब्रह्मानंद रेड्डी को जीत मिली। इन चारों सीटों पर 23 अगस्त को वोट डाले गए थे। बवाना:AAP को 24052 वोट से जीत मिली। शुरुआती दौर में पीछे चल रहे आप कैंडिडेट रामचंद्र को 59,886 वोट मिले। वहीं, बीजेपी के वेद प्रकाश 35,834 वोट के साथ दूसरे और कांग्रेस कैंडिडेट सुरेंद्र कुमार 31,919 वोट के साथ तीसरे नंबर पर रहे। वहीं, 1413 लोगों ने नोटा को चुना। आप सपोर्टर्स ने जश्न शुरू कर दिया है। - AAP के बागी विधायक कपिल मिश्रा ने सीएम केजरीवाल पर ट्वीट कर तंज कसा है। उन्होंने लिखा- ''बवाना में जीत की बधाई @ArvindKejriwal, मेरे प्रयासों में कमी रही, आपके घोटालों को घर-घर तक नहीं पहुंचा सका, भ्रष्टाचार से जंग जारी रहेगी।'' - नंदयाल:टीडीपी कैंडिडेट भुमा ब्रह्मानंद रेड्डी ने 27,466 वोट से वाईएसआर कांग्रेस के कैंडिडेट शिल्पा मोहन रेड्डी को हराया। सीएम चंद्रबाबू नायडू ने कहा- ''आंध्र प्रदेश की जनता ने फिर डेवलपमेंट और गुड गवर्नेंस पर भरोसा जताया है।'' - पणजी:मनोहर पर्रिकर ने पहले राउंड से ही बढ़त जारी रखी। कुल तीन राउंड के बाद उन्होंने 4,803 वोट से जीत दर्ज की। इसके बाद पर्रिकर ने कहा है कि वो अगले हफ्ते राज्यसभा की मेंबरशिप से इस्तीफा देंगे। - वालपेई:कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में आए विश्वजीत राणे को जीत 10,066 वोट से जीत मिल गई है। वो पहले इसी सीट पर कांग्रेस के विधायक थे।
चारों सीटों का क्या है हाल?..
# दिल्ली- बवाना सीट - नॉर्थ-वेस्ट दिल्ली की इस सीट पर पिछले चुनाव में 62% के मुकाबले सिर्फ 45% वोट पड़े। यहां करीब 3 लाख वोटर हैं। - बीजेपी ने आप के टिकट पर 2015 में जीत दर्ज करने वाले वेद प्रकाश को कैंडिडेट बनाया। उन्होंने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया और मार्च में बीजेपी में शामिल हो गए थे। कांग्रेस ने तीन बार विधायक रहे सुरेंद्र कुमार को टिकट दिया है। आप ने रामचंद्र को चुनाव मैदान में उतारा है। - 2015 में पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाने वाली आप के लिए बवाना में चुनाव अहम है। आप को गोवा और पंजाब के असेंबली, एमसीडी और राजौरी गार्डन असेंबली सीट पर हार मिली। इसके बाद सीएम केजरीवाल और पार्टी नेताओं ने तय किया था कि अब फोकस दिल्ली पर होगा।
# गोवा- पणजी और वालपेई सीट.
-यहां पणजी सीट पर 70% और वालपेई में 80% वोटिंग हुई। पणजी सीट पर मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर चुनाव मैदान में उतरे। यहां उनका मुकाबला कांग्रेस के गिरीश चोडांकर और गोवा सुरक्षा मंच (GSM) के आनंद शिरोडकर से था। बीजेपी विधायक सिद्धार्थ कुनकालीनेकर के इस्तीफा देने के बाद ये सीट खाली हुई। - बुधवार को वोट करने के बाद पर्रिकर ने कहा था, 'मैं कोई अनुमान नहीं लगाऊंगा, लेकिन जीत काफी मजबूत होगी।' अब वे अगले हफ्ते राज्यसभा की मेंबरशिप से इस्तीफा देंगे। - वालपेई सीट पर कांग्रेस से बीजेपी में आए विश्वजीत राणे ने जीत दर्ज की है। मई में गोवा असेंबली के फ्लोर टेस्ट के वक्त उन्होंने इस्तीफे दे दिया था।
# आंध्र प्रदेश- नंदयाल सीट.
- नंदयाल सीट पर 72% वोटिंग हुई। टीडीपी विधायक भुमा नागिरेड्डी के निधन के बाद कुरनूल जिले की नंदयाल सीट पर चुनाव हो रहा है। यहां कुल 2.19 लाख वोटर हैं। - सीएम चंद्रबाबू नायडू के लिए ये सीट प्रतिष्ठा का सवाल है। क्योंकि वाईएसआर कांग्रेस ने इस चुनाव को सरकार के 3 साल के कामकाज की परीक्षा बताया है। वाईएसआर ने शिल्पा मोहन रेड्डी को टिकट दिया है। पार्टी प्रेसिडेंट जगनमोहन रेड्डी खुद यहां प्रचार कर चुके हैं। - यहां एक रैली में जगमोहन रेड्डी ने सीएम नायडू के लिए आपत्तिजनक बयान दिया था। इस पर इलेक्शन कमीशन ने सख्स रुख अख्तियार करते हुए आंध्र प्रदेश ईसी को फौरन कार्रवाई का ऑर्डर दिए। इसके बाद पुलिस ने उनके खिलाफ केस दर्ज कर लिया।
क्यों हुए उपचुनाव?.
- बवाना:इस सीट से 2015 में आम आदमी पार्टी के टिकट पर जीत दर्ज कर विधायक बने वेद प्रकाश ने इस्तीफा देकर मार्च में बीजेपी ज्वाइन कर ली थी। - पणजी:यहां के बीजेपी विधायक सिद्धार्थ कुनकालीनेकर ने इस्तीफा देकर सीएम मनोहर पर्रिकर के लिए सीट छोड़ी। पर्रिकर को सीएम बनने के बाद 6 महीने असेंबली मेंबर बनना जरूरी था। - वालपेई:यहां से कांग्रेस के टिकट पर लड़े विश्वजीत राणे ने जीत दर्ज की थी। मई में गोवा असेंबली के फ्लोर टेस्ट के वक्त उन्होंने नाटकीय तरीके से विधायकी और पार्टी से इस्तीफे दे दिया था। - नंदयाल: कुरनूल जिले की ये सीट टीडीपी विधायक भुमा नागिरेड्डी के निधन के बाद खाली हो गई थी।


स्मृति ने राज्यसभा सांसद के तौर पर संस्कृत में ली शपथ, शाह ने भी संभाली जिम्मेदारी
25 Aug 2017
नई दिल्ली.अमित शाह और स्मृति ईरानी ने शुक्रवार को राज्यसभा सांसद के तौर पर शपथ ली। ईरानी ने शपथ संस्कृत में पढ़ी। बता दें कि हाल ही में गुजरात की तीन सीटों के लिए हुए राज्यसभा चुनाव में दोनों बीजेपी नेताओं ने जीत दर्ज की थी। दोनों नेताअों को 46-46 वोट मिले थे। तमाम विवादों के बीच कांग्रेस लीडर अहमद पटेल को भी तीसरी सीट से जीत हासिल हुई थी। सुषमा, उमा हर्षवर्धन ने भी संस्कृत में ली थी शपथ... - इससे पहले 2014 के लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज करने के बाद सुषमा स्वराज, उमा भारती और हर्षवर्धन ने भी संस्कृत में शपथ ली थी। - उस वक्त डीवी सदानंद गौड़ा, अनंत कुमार और जीएम सिद्धेश्वर में कन्नड़ में, सर्वानंद सोनोवाल ने असमी और जुआल ओराम ने उड़िया में शपथ ली थी।
UP में 12 विधायकों ने संस्कृत में ली थी शपथ...... - उत्तर प्रदेश में इस साल हुए विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी के 12 विधायकों ने संस्कृत में शपथ ली थी। इनमें संजय शर्मा, अनुपमा जयसवाल, सतीश द्विवेदी, चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय, पवन केडिया, धनंजय कनौजिया, आनंद स्वरूप शुक्ला, सुनील वर्मा, महेंद्र सिंह, सुरेश श्रीवास्तव, नीरज वोरा और शशांक त्रिवेदी शामिल थे।
गुजरात में काउंटिंग के वक्त 8 घंटे चला था ड्रामा.... - गुजरात में हुए राज्यसभा चुनाव में अहमद पटेल की सीट को लेकर विवाद की स्थित बन गई थी। 8 अगस्त को वोटिंग विवाद पर करीब 8 घंटे तक काउंटिंग रुकी रही थी। - देर रात इलेक्शन कमीशन ने कांग्रेस की मांग पर कांग्रेस के दो एमएलए के वोट रद्द कर दिए, जिसके बाद फिर काउंटिंग शुरू हुई। कांग्रेस के अहमद पटेल अपनी सीट बचाने में कामयाब रहे। पटेल ने बीजेपी कैंडिडेट बलवंत सिंह को मात दी थी।
कैसे आसान हुई अहमद पटेल की जीत ?.. - मंगलवार को 176 विधायकों ने वोट डाले। इस हिसाब से अहमद पटेल को जीत के लिए 45 वोट चाहिए थे। रात को कांग्रेस की शिकायत के बाद इलेक्शन कमीशन ने कांग्रेस के दो विधायकों के वोट रद्द कर दिए। - इसके बाद कुल विधायकों की संख्या घटकर 174 हो गई। अब जीत के लिए अहमद पटेल को 44 वोट की जरूरत थी, जो उन्हें मिल गए। नियमों के मुताबिक एक कैंडिडेट को जीत के लिए कुल वोट का एक चौथाई वोट जरूरी होता है। - पहले विधायकों का यह समीकरण था- गुजरात असेंबली में कुल 182 सीटें हैं। 6 विधायकों ने कांग्रेस छोड़ी है। सभी विधानसभा से भी इस्तीफा दे चुके हैं। इसके बाद असेंबली में 176 MLA बचे । बीजेपी के 121 विधायक हैं। वहीं, कांग्रेस के पास 51 विधायक हैं। इनमें से 6 विधायक बागी हो गए थे।


विधानसभा उपचुनाव: दोपहर 1 बजे तक बवाना में 27%, पणजी सीट पर 35% वोटिंग
23 Aug 2017
नई दिल्ली.आंध्र प्रदेश, गोवा और दिल्ली की चार असेंबली सीटों के उपचुनाव के लिए वोटिंग जारी है। गोवा की दो सीटों में से एक पर खुद सीएम मनोहर पर्रिकर चुनाव मैदान में हैं। वहीं, दिल्ली की बवाना सीट पर आम आदमी पार्टी, बीजेपी और कांग्रेस के बीच मुकाबला कड़ा है। आंध्र की नंदयाल सीट पर चुनाव जीतने के लिए सीएम चंद्रबाबू नायडू भी प्रचार में पूरी ताकत झोंक चुके हैं। दिल्ली में दोपहर 1 बजे तक 27% वोटिंग हुई। वहीं, गोवा में दोपहर 1 बजे तक पणजी सीट पर 35% और वालपेई सीट पर 40% वोटिंग हुई। आंध्र प्रदेश की नंदयाल सीट पर 10 बजे तक 30% वोटिंग दर्ज की गई थी। चारों सीटों के नतीजे नतीजे 28 अगस्त को आएंगे।
VVPAT का इस्तेमाल.......
# दिल्ली- बवाना सीट - वोटिंग के लिए वोटर वेरिफायड पेपर ऑडिट ट्रायल (VVPAT) से लैस ईवीएम मशीनों का इस्तेमाल हो रहा है। मतदान की रफ्तार थोड़ी सुस्त है। नॉर्थ-वेस्ट दिल्ली की इस सीट पर कुल 379 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। यहां करीब 3 लाख वोटर हैं। - बीजेपी ने आप के टिकट पर 2015 में जीत दर्ज करने वाले वेद प्रकाश को कैंडिडेट बनाया है। उन्होंने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया और मार्च में बीजेपी में शामिल हो गए। कांग्रेस ने तीन बार विधायक रहे सुरेंद्र कुमार को टिकट दिया है। आप ने रामचंद्र को चुनाव मैदान में उतारा है। - 2015 में पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाने वाली आम आदमी पार्टी के लिए बवाना सीट पर चुनाव अहम माना जा रहा है। आप को गोवा और पंजाब के असेंबली, एमसीडी और राजौरी गार्डन असेंबली सीट पर हार मिली। इसके सीएम अरविंद बाद केजरीवाल और पार्टी नेताओं ने तय किया कि अब पूरा फोकस दिल्ली पर ही होगा। इसके लिए केजरीवाल समेत कई बड़े नेताओं ने बवाना में प्रचार किया। # गोवा- पणजी और वालपेई सीट
VVPAT का इस्तेमाल....... - गोवा की पणजी सीट पर मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के मैदान में उतरने से इस चुनाव पर सबकी निगाहें हैं। यहां पर्रिकर का मुकाबला कांग्रेस के गिरीश चोडांकर और गोवा सुरक्षा मंच (GSM) के आनंद शिरोडकर से है। बीजेपी विधायक सिद्धार्थ कुनकालीनेकर के इस्तीफा देने के बाद ये सीट खाली हुई। - बुधवार को वोट डालने के बाद पर्रिकर ने कहा, 'मैं कोई अनुमान नहीं लगाऊंगा, लेकिन जीत काफी मजबूत होगी।' दूसरी सीट वालपेई कांग्रेस विधायक विश्वजीत राणे के इस्तीफे के बाद खाली हुई है। - दोपहर 12 बजे तक पणजी सीट पर 34% और वालपेई सीट पर 40% वोटिंग हुई।
# आंध्र प्रदेश- नंदयाल सीट.... - टीडीपी विधायक भुमा नागिरेड्डी के निधन होने के कारण कुरनूल जिले की नंदयाल सीट पर चुनाव हो रहा है। सीएम चंद्रबाबू नायडू के लिए ये सीट प्रतिष्ठा का सवाल है। क्योंकि वाईएसआर कांग्रेस ने इस चुनाव को सरकार के 3 साल के कामकाज की परीक्षा बताया है। वाईएसआर ने शिल्पा मोहन रेड्डी को टिकट दिया है। पार्टी प्रेसिडेंट जगनमोहन रेड्डी खुद यहां प्रचार कर चुके हैं। - 10 बजे तक 30% वोटिंग हुई।


केजरीवाल ने मानहानि केस में BJP नेता से माफी मांगी, कोर्ट को सौंपा लेटर
21 Aug 2017
नई दिल्ली.अरविंद केजरीवाल ने अपने खिलाफ दायर एक मानहानि केस में बीजेपी नेता से माफी मांग ली। उन्होंने सोमवार को पटियाला हाउस कोर्ट को सौंपे लेटर में कहा कि मेरे कुछ पूर्व साथियों ने हरियाणा के बीजेपी नेता और पूर्व सांसद अवतार सिंह भड़ाना के भष्टाचार में लिप्त होने की जानकारी दी थी। इसके बाद मेरी ओर से उनके लिए कहे गए शब्दों और बयान पर खेद जताता हूं। ये जानकारी बाद में झूठी निकली। बता दें कि बीजेपी नेता ने 2014 में मानहानि केस फाइल कर 1 करोड़ रुपए का हर्जाना मांगा था।
केजरी ने बीजेपी नेता के लिए क्या कहा.... - बीजेपी नेता भड़ाना का आरोप है कि दिल्ली के सीएम ने 31 जनवरी, 2014 को उनके लिए आपत्तिजनक बयान दिया। उन्होंने कहा था कि अवतार सिंह भड़ाना देश के सबसे भ्रष्ट लोगों में से एक हैं। - इसके बाद उन्होंने केजरीवाल को लीगल नोटिस भेजकर बयान पर माफी मांगने के लिए कहा। नोटिस में भड़ाना ने कहा था कि आपके कमेंट से समाज में मेरे मान-सम्मान और प्रतिष्ठा को ठेस पहुंची है। बयान वापस लेकर माफी मांग लें। लेकिन ऐसा नहीं करने पर उन्होंने आम आदमी के चीफ के खिलाफ 1 करोड़ की मानहानि का केस दायर कर दिया
माफीनामे में क्या लिखा? केजरीवाल ने कोर्ट को दिए लेटर में कहा, ''अवतार सिंह भड़ाना की ओर से दायर मानहानि केस में कोर्ट को बताना चाहता हूं कि कुछ पूर्व साथियों के दिए इनपुट के आधार पर मेरे द्वारा बीजेपी नेता के खिलाफ बयान दिया गया। इससे उनकी प्रतिष्ठा को ठेस पहुंची। मुझे बाद में पता चला है कि उन पर लगाए आरोप झूठे निकले। बयान पर मुझे खेद है, चाहता हूं कि केस वापल ले लिया जाए।''
क्या जेटली से माफी मांगेंगे? - डीडीसीए में करप्शन के आरोप लगाने के बाद अरुण जेटली ने भी केजरीवाल समेत 5 आप नेताओं के खिलाफ के 10-10 करोड़ के दो मानहानि केस फाइल किए हैं। - इस मामले में सीनियर वकील राम जेठमलानी केजरीवाल की पैरवी कर रहे थे, लेकिन कुछ दिन पहले उन्होंने केस से खुद को अलग कर लिया। इसके बाद जेठमलानी ने केजरीवाल को एक लेटर लिखा और वित्त मंत्री से माफी मांगने की सलाह दी है।


राजधानी एक्सप्रेस में 25 पैसेंजर्स का सामान चोरी, रेलवे स्टाफ के शामिल होने का आरोप
17 Aug 2017
नई दिल्ली.मुंबई से दिल्ली आ रही अगस्त क्रांति राजधानी एक्सप्रेस में बुधवार रात 25 पैसेंजर्स का सामान गायब हो गया। बदमाशों ने रतलाम स्टेशन के पास चलती ट्रेन में वारदात को अंजाम दिया। पैसेंजर्स की शिकायत के मुताबिक, करीब 10-15 लाख रुपए का सामान चोरी हुआ।दिल्ली के निजामुद्दीन स्टेशन पर जीआरपी थाने में पैसेंजर्स ने केस दर्ज कराया है।
बदमाशों ने 7 VIP कोच को निशाना बनाया....... - रेल मंत्रालय की ओर से दी गई शुरूआती जानकारी के मुताबिक, राजधानी एक्सप्रेस के 7 कोच (A1, A3, B6, B7, B9, B10 and B5) और AC-2 और AC-3 क्लास के सभी कोच बदमाशों के निशाने पर रहे। चोरी और लूटपाट की घटना रात करीब 2 से 3 बजे के बीच हुई। एक सीनियर अफसर ने न्यूज एजेंसी से कहा कि रेलवे पुलिस फोर्स (RPF) के तीन अफसरों की टीम इस मामले की जांच कर रही है। - रेलवे के स्पोक्सपर्सन अनिल कुमार सक्सेना ने बताया कि घटना का खुलासा उस वक्त हुआ, जब ट्रेन राजस्थान के कोटा स्टेशन पर पहुंची। पैसेंजर्स ने अपने पर्स, मोबाइल और बैग देखे तो सब गायब थे, बाद में बाथरूम के पास पर्स और बैग खाली पड़े मिले। आरपीएफ ने लोगों से कोटा में एफआईआर दर्ज कराने के लिए कहा, लेकिन ज्यादातर ने फैसला किया कि वे निजामुद्दीन स्टेशन पर ही केस दर्ज कराएंगे। इस मामले में अब तक 11 एफआईआर दर्ज हो चुकी हैं।
रेलवे स्टाफ की मिलीभगत का आरोप - शिकायत में पैसेंजर्स ने बताया कि उनके पर्स में रखा कैश-ज्वैलरी, स्मार्टफोन-आईफोन और आधार कार्ड जैसे जरूरी दस्तावेज गायब हुए हैं। वारदात का शिकार हुए पैसेंजर्स का आरोप है कि रेलवे स्टाफ के साथ मिलकर बदमाशों ने उन्हें कोई नशीली चीज खिलाई, जिससे सभी गहरी नींद में सो गए। - रेल मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि घटना में किसी रेलवे स्टाफ के शामिल होने की भी जांच कराई जा रही है। अगर कुछ भी ऐसा पता चला तो संबंधित के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
ऐसी घटनाएं रोकने के लिए सीसीटीवी लगेंगे: प्रभु - रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने कहा, ''शुरुआत में डकैती की खबर मिली थी, लेकिन अब ऐसा सामने नहीं आया, ये दुर्भाग्यपूर्ण है। सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं, इस तरह की घटनाएं रोकने के लिए सभी कोच में सीसीटीवी लगाए जा रहे हैं।


बेगमपुर इलाके में रेप का विरोध करने पर आरोपियों ने लड़की को चौथी मंजिल से नीचे फेंक दिया।
14 Aug 2017
नई दिल्ली.बेगमपुर इलाके में रेप का विरोध करने पर आरोपियों ने लड़की को चौथी मंजिल से नीचे फेंक दिया। लड़की फिलहाल हॉस्पिटल में भर्ती है, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। डॉक्टरों की मानें तो लड़की के सिर में 14 टांके आए हैं और कई हड्डियां टूट चूकी हैं। हालत में सुधार नहीं आने से उसकी सर्जरी नहीं हो पा रही हैं। फिलहाल डॉक्टर उसके होश में आने का इंतजार कर रहे हैं। आरोपी पहले लड़की के साथ काम करता था।
फाइल स्टार होटल में जॉब करती है लड़की.... - उधर, मामले में पुलिस ने लड़की के दोस्तों और परिजनों की शिकायत के बाद आरोपी विकास को गिरफ्तार कर और उससे पूछताछ शुरू कर दी है। मामले में पुलिस की छानबीन में सामने आया है कि 21 साल की लड़की फैमिली के साथ कीर्ति नगर में रहती है। वह रोहिणी के एक फाइव स्टार होटल में नौकरी करती है। - गुरुवार को वह अपने दो दोस्तों (एक लड़का और लड़की) के साथ घूमने निकली थी। उनके साथ दीपक भी आ गया, जो पहले उनके साथ होटल में नौकरी करता था। चारों कनॉट प्लेस जाने के लिए दीपक की एक ही बाइक पर बैठकर निकले। पंजाबी बाग में उनकी बाइक को पुलिस ने रोका और जब्त कर लिया। इसके बाद वह एक ऑटो में बैठकर लौटने लगे।
लड़की को अंडर कंस्ट्रक्शन बिल्डिंग में ले गया आरोपी - रामा विहार इलाके में लड़की को साथ लेकर दीपक ऑटो से उतर गया। उसने बताया कि वह अपने घर से कार की चाबी लेकर आ रहा है। अपनी कार में वह उन्हें घर छोड़ देगा। लड़की को अपने घर ले जाने की वजाय वह एक अंडर कंस्ट्रक्शन बिल्डिंग की चौथी मंजिल पर ले गया। उधर, ऑटो में बैठे साथी दोनों के आने का इंतजार कर रहे थे। इसी दौरान उन्होंने लोगों के चिल्लाने की आवाज सुनी। लोग एक बिल्डिंग की तरफ भाग रहे थे। वहां मौजूद लोगों ने उन्हें बताया कि एक लड़की को छत से फेंककर आरोपी फरार हो गया है।


पेट के कीड़े मारने की सरकारी दवा खाने से 75 बच्चे बीमार, हालत खतरे से बाहर
10 Aug 2017
नई दिल्ली.नोएडा सेक्टर-53 के एक स्कूल में सरकारी दवा खाने के बाद 75 बच्चे बीमार हो गए। गुरुवार को सभी स्टूडे्ंट्स को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। बच्चों को यूपी हेल्थ डिपार्टमेंट की ओर से मुफ्त में कीड़े मारने की दवा खिलाने के लिए कैंप लगाया गया था। बच्चों की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। बता दें कि हर साल 10 अगस्त को नेशनल डीवार्मिंग डे मनाया जाता है। इस मौके पर बच्चों को सरकारी दवाई खिलाई जाती है।
बच्चों ने की सिरदर्द और उल्टी की शिकायत... - जानकारी के मुताबिक, सेक्टर-53 के मदन मोहन मालवीय स्कूल में नेशनल डीवार्मिंग डे पर बच्चों को दवा खिलाई गई। इसके बाद कई बच्चों की तबीयत खराब होने लगी। ज्यादातर स्टूडेंट्स ने सिर दर्द और उल्टी की शिकायत की। - इसकी जानकारी मिलते ही स्टूडेंट्स को सरकारी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। यहां डॉक्टर ने बताया कि एलबेंडाजोल की खुराक देने से सिर दर्द, उल्टी होना आम बात है। जांच के बाद सभी बच्चों की हालत ठीक है।
स्कूल मैनेजमेंट ने क्या कहा? - स्कूल मैनेजमेंट ने बताया कि स्कूल में 5th क्लास तक के बच्चों को पेट के कीड़े मारने की दवा दी गई। जैसे ही कुछ बच्चों ने सिरदर्द की शिकायत की तो तुरंत एम्बुलेंस बुलाई गई। सभी स्टूडेंट खतरे से बाहर हैं। - बता दें कि हर साल 10 अगस्त को नेशनल डीवार्मिंग डे मनाया जाता है। इस मौके पर बच्चों को सरकारी दवाई खिलाई जाती है। पहले भी बच्चों की तबीयत बिगड़ने के मामले सामने आ चुके हैं।


देश में ऐसे भी तत्व रहे जिनका आजादी दिलाने में कोई योगदान नहीं रहा: सोनिया
9 Aug 2017
नई दिल्ली. भारत छोड़ो आंदोलन की 75th एनिवर्सरी पर बुलाए गए संसद के स्पेशल सेशन में सोनिया गांधी ने लोकसभा में कहा कि गांधीजी सांप्रदायिकता के खिलाफ थे। लेकिन आज भी ये बात दिखाई देती है। जेल में सबसे लंबा वक्त बिताने वाले नेता नेहरू थे। वहीं देश में कुछ तत्व ऐसे भी रहे जिनका आजादी दिलाने में कोई योगदान नहीं रहा।
देशवासियों में आज भी शंका.. - सोनिया ने कहा, ''प्रदर्शनकारी निडर रहे और झुके नहीं। भारतीय आंदोलन मिसाल बन गया लेकिन इसके लिए हमें अनगिनत कुर्बानियां देनी पड़ीं। आज वही कुर्बानियां हमें वह मौका देती हैं कि हम उन्हें आदर के साथ याद करें। आज जब हम उन शहीदों का नमन कर रहे हैं, हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि उस दौर में ऐसे संगठन और व्यक्ति भी थे, जिन्होंने भारत छोड़ो आंदोलन का विरोध किया था। उन तत्वों का हमारे देश को आजादी दिलाने में कोई योगदान नहीं रहा।'' - ''देशवासियों को आज शंका भी है। जहां आजादी का माहौल था, वहां भय नहीं फैल रहा है। जो विचारों की आजादी, स्वेच्छा की आजादी, आस्था और समानता की आजादी कानून पर आधारित है, भारत छोड़ो आंदोलन हम सभी को इसकी याद दिलाता है कि हम भारत के विचारों को संकीर्ण विचारों वाले, साम्प्रदायिक तत्वों का कैदी नहीं बनने दे सकते।'' - ''हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने न्यायसंगत भारत के लिए लड़ाई लड़ी। ऐसा लगता है कि आज नफरत और विभाजन की राजनीति के बादल छा गए हैं। ऐसा लगता है कि सेकुलर, लोकतांत्रिक और उदारवादी मूल्य खतरे में पड़ते जा रहे हैं। पब्लिक स्पेस में विचारों की आजादी कम होती जा रही है। कानून के राज पर गैर-कानूनी शक्तियां हावी होती दिखाई देती हैं।'' - ''भारत छोड़ो आंदोलन हम सभी को प्रेरणा देता है कि अगर हमें अपनी आजादी को सुरक्षित रखना है तो हमें हर तरह की दमनकारी शक्ति के खिलाफ संघर्ष करना होगा चाहे वे कितनी भी समर्थ और सक्षम हों। हमें आज भी उस भारत के लिए लड़ना है, जिस भारत में हम विश्वास रखते हैं। जो भारत हमें प्यारा है, जिस भारत में जन-जन आजाद है, जिसकी आजादी निर्विवाद है।''
सोनिया ने कहा- गांधीजी के शब्दों ने पूरे देश को आंदोलित किया - यूपीए चेयरपर्सन ने कहा, ''आज हम यहां 75 साल पुरानी भारत छोड़ो आंदोलन की यादें ताजा करने इकट्ठा हुए हैं। मुझे गर्व है कि मैं यहां खड़े होकर इंडियन नेशनल कांग्रेस के हजारों महिला-पुरुष कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि दे रही हूं। आज ही के दिन महात्मा गांधी ने मुंबई में जवाहरलाल नेहरू और सरदार पटेल के प्रस्तावित संकल्प को स्वीकार किया। उसमें अंग्रेजी हुकूमत से देश छोड़ने को कहा गया था। इस संकल्प के पारित होने के बाद महात्मा गांधी ने अपने भाषण के अंत में जो कहा, मैं उसे दोहरा रही हूं। '' - ''गांधीजी ने कहा था कि मैंने कांग्रेस को प्रतिज्ञा दिलाई है कि वह करे या मरे। इन शब्दों ने पूरे देश को आंदोलित कर दिया। अंग्रेजों ने कांग्रेस नेताओं को तुरंत गिरफ्तार कर लिया। हजारों लोगों को दूसरा विश्वयुद्ध खत्म होने तक जेल में रखा गया। नेहरू ने देश में अपना सबसे लंबा समय बिताया। कुछ कांग्रेस नेता तो बीमारी की वजह से जेल से जिंदा भी बाहर नहीं आ सके।'' - ''इस आंदोलन को जिंदा रखने के लिए कई महिलाओं-पुरुषों को अंडरग्राउंड होना पड़ा। अंग्रेजों ने दमन किया। कार्यकर्ताओं पर गोलियां बरसाईं। अंग्रेजों के आदेशों को नहीं मानने वालों पर कोड़े बरसाए गए। राष्ट्रवादी अखबारों पर पाबंदियां लगाई गईं। पुलिस ने महिलाओं का उत्पीड़न किया। कैदियों की बर्बरतापूर्वक पिटाई की। उन्हें बर्फ की सिल्लियों पर निर्वस्त्र कर तब तक रखा गया, जब तक वे बेहोश नहीं हो गए।''
करेंगे या मरेंगे - मोदी ने कहा, "इतिहास की घटनाएं हमारे लिए आज किस प्रकार सार्थक बने, इसका प्रयास रहना चाहिए।" - "आजादी के आंदोलन में कई उतार-चढ़ाव आए। भारत छोड़ो आंदोलन अंतिम व्यापक जनसंग्रह था। 1942 में ऐसी पीठिका तैयार हुई थी कि देश के हर कोने में लोगों में आजादी की अलख जग गई थी।" - "तिलक ने पूर्ण स्वराज का नारा दिया था। 1920 में महात्मा गांधी ने असहयोग आंदोलन चलाया। भगत सिंह, राजगुरु, चापेकर बंधुओं ने अलग-अलग समय पर बलिदान दिया।" - "गांधीजी ने भारत छोड़ो आंदोलन में शब्द गूंजे- करेंगे या मरेंगे। देश के लिए ये अजूबा था। गांधीजी ने कहा था कि मैं पूर्ण स्वतंत्रता से कम में संतुष्ट होने वाला नहीं हूं।" - "जंजीरें और किताबें बुक में लिखा है- हर व्यक्ति उस वक्त नेता बन गया। हर घर भारत छोड़ो आंदोलन का ऑफिस बन गया था। हर व्यक्ति में भारत छोड़ो की बात घर कर चुकी थी। 1942 के बाद जहां-जहां उपनिवेशवाद के खिलाफ क्रांति भड़की, उसका श्रेय भारत को जाता है।"
जेटली बोले- सद्भावना बनी रहे - जेटली ने कहा, "आज भी हजारों लोग गरीबी की रेखा से नीचे रह रहे हैं। देश की सुरक्षा, इन्फ्रास्ट्रक्चर, एजुकेशन के लिए और साधन डालने की जरूरत है।" - "अलग-अलग जातियां, धर्म इस देश का अंग हैं। जरूरी ये है कि सद्भावना बनी रहे। आज की तारीख में जागरूकता और अकाउंटेबिलिटी बढ़ी है। अगर हम चाहते हैं कि हम दुनिया में सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनें तो इसके लिए देश में मेलजोल और एकता बनी रहनी चाहिए।" - "आज का ये दिन इतिहास का प्रतिनिधि है। लिहाजा हम देश को न्यायसंगत और प्रगतिशील बनाएं। इस दिन हमें प्रस्तावना करनी चाहिए कि देश को इस दिशा में लेकर जाएंगे।"


मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलने के प्रस्ताव पर राज्यसभा में हंगामा
4 Aug 2017
नई दिल्ली. राज्यसभा में शुक्रवार को मुगल सराय स्टेशन का नाम बदलने पर हंगामा हुआ। सपा के नरेश अग्रवाल ने कहा कि सरकार पहचान बदलना चाहती है। मुगल सराय को पूरी दुनिया में लोग जानते हैं। जवाब में मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, "वो लोग मुगलों के नाम पर स्टेशन का नाम रख लेंगे, दीन दयाल उपाध्याय के नाम पर नहीं रखेंगे।" बता दें यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने स्टेशन का नाम बदलने का प्रस्ताव भेजा था। अपोजिशन सुषमा के बयान पर भी हंगामा कर सकता है। विपक्ष की सुषमा के इस बयान पर भी नाराजगी है, "नेहरू ने व्यक्तिगत रूप से सम्मान कमाया लेकिन मोदी ने पूरे देश को सम्मान दिलाया।
पाक से रिश्ते उतार-चढ़ाव भरे रहे हैं...... - न्यूज एजेंसी के मुताबिक सुषमा ने गुरुवार को संसद में कहा था, "2014 में मोदी सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में तमाम पड़ोसी नेताओं के साथ नवाज शरीफ को भी न्योता भेजा गया था। तब से लेकर आज तक पाकिस्तान के साथ भारत के संबंध उतार-चढ़ाव भरे रहे हैं।" - "जब मैं 9 दिसंबर, 2015 को हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन में हिस्सा लेने पाकिस्तान गई थी, तब शरीफ ने नए सिरे से बातचीत शुरू करने की बात कही थी। इसे हमने कॉन्प्रीहेंसिव बाइलेट्रल डायलॉग कहा था।" - "पाकिस्तान से रिलेशन उस वक्त ऊंचाई पर पहुंच गए, जब 25 दिसंबर, 2015 को मोदी प्रोटोकॉल को दरकिनार कर शरीफ को जन्मदिन की बधाई देने लाहौर पहुंच गए। नवाज ने उन्हें बुलाया तो पीएम चले गए। पीएम का काबुल से लाहौर तक जाना सब पब्लिक डोमैन में है।" - "1 जनवरी 2016 को पठानकोट पर आतंकी हमला हुआ। इसके बाद भी दोस्ती बदरंग नहीं नहीं हुई। पाक ने पहले की तरह ही इससे पल्ला झाड़ा और एक जांच टीम गठित कर दी।" - "कहानी वहां बदली, जब हिजबुल मुजाहिदीन नाम का हिजबुल मुजाहिदीन कमांडर एनकाउंटर में मारा गया और पाक ने उसे शहीद घोषित कर दिया।
और क्या बोलीं थी सुषमा? - सुषमा ने कहा, "18 सांसदों ने चर्चा में भाग लिया। आनंद शर्मा जी का शुक्रिया। उन्हें टोन सेट किया। नेहरू ने देश का मान बढ़ाया, ये सच है। नेहरू ने व्यक्तिगत तौर पर सम्मान कमाया और मोदी ने देश को सम्मान दिलाया। अब सरकार का दृष्टिकोण सुनिए। सबने कहा कि हमारे पड़ोसियों से रिश्ते खराब हैं। पाकिस्तान, चीन और रूस मुद्दा उठा। इजराइल का भी जिक्र हुआ।" - "जहां तक पड़ोसी देशों का संबंध है। हम किसे मित्र कहते हैं? जो संकट में मदद करें। मालदीव का पानी संकट आया। मैंने तीन घंटे में रेल नीर भेजा। श्रीलंका में मदद की। नेपाल में भी किया। डोनर कॉन्फ्रेंस में भारत ने 1 बिलियन डॉलर दिए। 17 साल तक भारत का कोई पीएम नेपाल नहीं किया। 11 साल तक कांग्रेस की सरकार थी। राजीव जी की सरकार के वक्त क्या हुआ? जो पीएम ना जाए तब अच्छा और जो दो पीएम दो-दो बार जाए वो संबंध खराब। चीन ने पाकिस्तान और श्रीलंका में पोर्ट कब बनाए? 2008 में तब किसकी सरकार थी? कोलंबो में 2011 में शुरू हुआ 2014 में पूरा हुआ? अगर आप इतने परेशान हैं तो देश के सामने 2008 का जिक्र क्यों नहीं। जो चिंताए आप बता रहे हैं तो उसके जन्मदाता आप हैं। आज हम पर आरोप ना लगाएं। हमने तो इसे सिक्योर किए। श्रीलंका ने चीन से कहा है कि कंट्रोल श्रीलंका का रहेगा।" - "रामगोपाल जी से कहना चाहूंगी कि युद्ध किसी समस्या का हल नहीं है। सेना तो युद्ध के लिए ही होती है। इसके बाद भी तो बात करनी पड़ती है। डिप्लोमैटिक चैनल्स खुले हैं। आज आर्थिक ताकत जरूरी है। मैं शरद जी की बात से सहमत हूं। पड़ोसियों को साथ रखना जरूरी है। मोदी कहते हैं कि सबका साथ, सबका विकास का मतलब पड़ोसियों के विकास से भी है। हमारी जो आर्थिक क्षमता है, वही हमें आगे लेकर जाएगी।"


चोटी काटने के शक में 3 बहुरूपियों को गांववालों ने पकड़ कर पुलिस को सौंपा
2 Aug 2017
नई दिल्ली.दक्षिण-पश्चिम जिले के छावला इलाके में तीन महिलाओं की चोटी काटने की घटना के बाद गांव में इस कदर डर का माहौल है कि वह हर किसी को शक की निगाह से देख रहे हैं। गांव वालों के शक ने मंगलवार को तीन लोगों के लिए परेशानी खड़ी कर दी। बता दें कि पिछले कई दिनों राजस्थान, हरियाणा, वेस्ट यूपी और दिल्ली में चोटी काटाने की घटनाएं सामने आई हैं। वहीं, लोग इसे भूत आत्माओं का काम मान रहे हैं और बचाव के लिए घरों के दरवाजों पर नीबू, मिर्च, प्याज और नीम की पत्तियां लटका रहे हैं।
बहुरूपियों को पुलिस ने पकड़ा..... - दरअसल, तीनों लोग बहुरूपिया बन कर हुई कमाई से अपना गुजारा करते हैं। मंगलवार सुबह गांव के बाहर खेत के पास तीनों अपना भेष बदल कर मेकअप कर रहे थे। तभी गांव के कुछ युवकों उन्हें पकड़ लिया। इसी दौरान इस बाबत किसी ने पुलिस को सूचित कर दिया। मौके पर पहुंची पुलिस तीनों को थाने लेकर आई। पुलिस को पूछताछ में कुछ भी संदिग्ध नहीं मिला। जिसके बाद तीनों को जाने की इजाजत दे दी गई।
अब पालम में आया चोटी काटने का मामला छावला में चोटी काटने का मामला अभी सुलझा भी नहीं था कि मंगलवार को पालम के साध नगर में रहने वाली महिला ने अपनी चोटी कटने का दावा किया है। महिला का दावा है कि वह अपने पौत्र को स्कूल से लेकर घर पहुंची थी कि उसका सिर काफी भारी होने लगा। जिसके चलते वह सोफे पर लेट गई। इसी दौरान रेवाड़ी में रहने वाली उनकी बहन का फोन आया। वह मोबाइल फोन पर बात करते हुए घर से बाहर निकल गई, जब सिर पर हाथ फेरा तो पता चला कि उनकी चोटी कटी हुई है। महिला की शिकायत के बाद पुलिस ने इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को अपने कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।


सरकार VHP, बजरंग दल जैसे संगठनों और गोभक्तों को बढ़ावा देती है: कांग्रेस
31 July 2017
नई दिल्ली. संसद में सोमवार को जमकर हंगामा हुआ। अपोजिशन ने सरकार को विधायकों की खरीद-फरोख्त और भीड़ की हिंसा के मुद्दे पर जमकर घेरा। राज्यसभा में कांग्रेस ने आरोप लगाया कि पुलिस ने विधायकों को किडनैप कर लिया है। बीजेपी, कांग्रेस के विधायकों की खरीद-फरोख्त कर रही है। वहीं, लोकसभा में मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि सरकार परोक्ष रूप से वीएचपी, बजरंग दल जैसे गुटों और गोभक्तों को सपोर्ट करती है। 22 विधायकों को 15-15 करोड़ रुपए ऑफर किए गए... - कांग्रेस ने रविवार को बेंगलुरु में मीडिया के सामने अपने 42 विधायकों की परेड करवाई। कांग्रेस प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल ने दावा किया कि सभी विधायक मर्जी से यहां आए हैं और पार्टी में कोई कलह नहीं है। - गोहिल ने आरोप लगाया कि 8 अगस्त के राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग के लिए बीजेपी उनके विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रही थी। 22 विधायकों को 15-15 करोड़ रुपए ऑफर किए गए। लेकिन विधायक न तो बिके और न ही गुंडों से डरे। - उन्होंने ये भी कहा, "विधायक मौज-मस्ती के लिए यहां नहीं आए। हम लोकतंत्र बचाने के लिए लड़ रहे हैं।" - बता दें कि गुजरात में कांग्रेस के 7 विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद पार्टी ने सभी MLAs को शुक्रवार रात बेंगलुरू भेज दिया। कांग्रेस ने बीजेपी पर आरोप लगाया है कि वो पैसे और ताकत के दम पर उनके विधायकों को प्रभावित कर रही है।
अपोजिशन लगातार कर रहा हंगामा... - राज्यसभा में बुधवार को सत्ता पक्ष और अपोजिशन के बीच स्थगन प्रस्ताव को लेकर तीखी बहस हुई थी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की स्पीच पर भी हंगामा हुआ। सदन की कार्यवाही को तीन बार स्थगित करना पड़ा। - अरुण जेटली ने कहा कि पब्लिसिटी के लिए स्थगन प्रस्ताव का गलत इस्तेमाल किया रहा है। इस बीच कांग्रेस ने आरोप लगाया कि सरकार महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी को दरकिनार करने का काम कर रही है। राष्ट्रपति ने अपनी स्पीच में पं. दीनदयाल उपाध्याय की तुलना महात्मा गांधी से की। बता दें कि रामनाथ कोविंद ने अपनी स्पीच में महात्मा गांधी, दीनदयाल उपाध्याय, राजेंद्र प्रसाद, राधाकृष्णन, एपीजे कलाम और प्रणब मुखर्जी का जिक्र किया था।
ऐसे गरमाया मामला राज्यसभा में मामला तब गरमाया जब उपसभापति पीजे कुरियन ने कांग्रेस के आनंद शर्मा को अपनी बात नियम 267 के अंतर्गत रखने के लिए कहा। - जेटली ने कहा, "हम देख रहे हैं कि मामलों को नियम 267 के तहत नहीं लाया जाता। इसका गलत तरीके से इस्तेमाल हो रहा है। शून्यकाल का इस्तेमाल टीवी कैमरों पर फायदा पाने के लिए नहीं किया जा सकता। शर्माजी के बयान को कार्यवाही से हटा देना चाहिए। अगर कोई मेंबर समझौता ब्लास्ट का मामला लाना चाहता है, तो उसकी अनुमति देनी चाहिए।" - जेटली ने ये भी कहा कि कुछ मेंबर्स ने शून्यकाल में नोटिस दिए थे। उपसभापति को उनके अधिकारों की रक्षा करनी चाहिए। संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों की बात पर सदन में चर्चा नहीं होनी चाहिए।
विपक्ष ने लगाए ये आरोप... - गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सरकार गांधी-नेहरू जैसे नेताओं का अपमान करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने भारत की आजादी की लड़ाई लड़ी। जिन लोगों की शताब्दी मनाई जा रही है, उनका आजादी की लड़ाई में कोई योगदान नहीं रहा। सरकार अपने आप से ही फैसला से रही है। - कुरियन ने कहा कि नियम 267 के तहत सभी नोटिस खारिज किए जाते हैं। मुझे अधिकार है किसकी बात को सुना जाए।
क्या बोले थे कोविंद?.. - 14वें राष्ट्रपति कोविंद ने मंगलवार को शपथ ग्रहण के बाद पहली स्पीच में बताया कि राष्ट्र निर्माता कौन कहलाता है। उन्होंने 8 नेताओं- महात्मा गांधी, डॉ. राजेंद्र प्रसाद, डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन, सरदार पटेल, भीमराव अंबेडकर, दीनदयाल उपाध्याय, एपीजे अब्दुल कलाम और प्रणब मुखर्जी का नाम लिया। - राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, "आज पूरे विश्व में भारत के दृष्टिकोण का महत्व है। विश्व समुदाय हमारी तरफ देख रहा है। हम तेजी से विकसित होने वाली एक मजबूत अर्थव्यवस्था है। हमें समान मूल्यों वाले अवसर का निर्माण करना होगा। ऐसा समाज जिसकी कल्पना महात्मा गांधी और दीनदयाल उपाध्याय ने की थी।" - "संविधान की प्रस्तावना में उल्लेखित न्याय, स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व के मूल तत्वों का पालन किया जाता है। मैं भी यही करूंगा। 125 करोड़ नागरिकों ने जो विश्वास जताया, उस पर खरा उतरने का वचन देता हूं। मैं डॉ. राजेंद्र प्रसाद, डॉ. राधाकृष्ण, डॉ. कलाम और प्रणब मुखर्जी जिन्हें हम प्रणब दा कहते हैं, उनके पदचिह्नों पर चलने जा रहा हूं।" - कोविंद ने कहा, "महात्मा गांधीजी ने हमें मार्ग दिखाया। सरदार पटेल ने हमारे देश का एकीकरण किया। बाबा साहब भीमराव अंबेडकर ने हम सभी में मानवीय गरिमा और गणतांत्रिक मूल्यों का संचार किया। वे राजनीतिक स्वतंत्रता से संतुष्ट नहीं थे। वे करोड़ों लोगों की आर्थिक स्वतंत्रता का लक्ष्य चाहते थे।"


आप हमारी PM होतीं तो ये देश बदल गया होता: PAK की महिला ने सुषमा से कहा
28 July 2017
नई दिल्ली. फॉरेन मिनिस्टर सुषमा स्वराज मदद मांगने वालों को सोशल मीडिया पर तुरंत जवाब देती हैं। उनके इस बर्ताव की पाकिस्तान की एक महिला ने तारीफ की है। हिजाब आसिफ नाम की पाकिस्तानी महिला ने सुषमा के एक ट्वीट के जवाब में लिखा है, "आपको यहां से ढेर सारा प्यार और सम्मान। काश आप हमारी प्रधानमंत्री होतीं, तो ये देश बदल गया होता।
इलाज के लिए मांगा है भारत का वीजा....... - दरअसल हिजाब आसिफ ने भारत में इलाज कराने के लिए एक पाकिस्तानी सिटीजन के एप्लिकेशन पर सुषमा को ट्वीट कर मदद मांगी थी। पाकिस्तानी शख्स भारत आना चाहता है, लेकिन उसे मेडिकल वीजा नहीं मिल पा रहा है। - सुषमा ने हिजाब को निराश नहीं किया और उन्होंने इस्लामाबाद में इंडियन हाई कमीशन को पाकिस्तानी सिटीजन को भारत का वीजा देने का निर्देश दिया है
आपको क्या कहूं- सुपरवुमन या भगवान सुषमा के इस बर्ताव की तारीफ में हिजाब ने एक अन्य ट्वीट भी किया। लिखा, "आपको मैं क्या कहूं? सुपरवुमन? या भगवान? आपकी उदारता का बखान करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं। लव यू मैम, मेरी आंखों में आंसू हैं, आपकी तारीफ से खुद को रोक नहीं सकती।"
सुषमा ने सरताज अजीज पर निशाना साधा..... - इस मामले के बहाने सुषमा ने पाकिस्तान के विदेश मंत्री सरताज अजीज पर निशाना साधा। सुषमा ने हिजाब आसिफ को टैग करते हुए ट्वीट किया और लिखा, "क्या आप जैसे सीरियस केस में भी सरताज अजीज साहिब ने चिट्ठी देने से मना कर दिया?" - जवाब में हिजाब आसिफ ने लिखा, "मैम हमारी सरकार में आप जैसा कोई नहीं है, हमारे पास सरताज अजीज हैं, पर कोई नहीं जानता वे हैं भी या नहीं।" - हिजाब ने कहा, "हमारी सरकार करप्ट है, हम भारत से नफरत नहीं करते, मैं भारत और भारतीयों से प्यार करती हूं, वास्तव में यहां सभी करते हैं।" - दरअसल, कुछ समय पहले सुषमा ने कहा था कि पाकिस्तानी सिटीजंस को इलाज के लिए भारत आने की इजाजत मिलती रहेगी, लेकिन अपने वीजा एप्लिकेशन के साथ उन्हें पाकिस्तान की फॉरेन मिनिस्ट्री की तरफ से जारी सिफारशी चिट्ठी भी देनी होगी।
जाधव को फांसी की सजा के बाद से मेडिकल वीजा प्रॉसेस में देरी.. हर साल सैकड़ों की संख्या में पाकिस्तानी सिटीजन भारत में इलाज कराने आते हैं। कई हॉस्पिटल्स ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि वे हर महीने कम से कम 500 पाकिस्तानी मरीज देखते हैं। लेकिन पाकिस्तान की मिलिट्री कोर्ट द्वारा इंडियन सिटीजन कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा सुनाए जाने से दोनों देशों के बीच पैदा हुए तनाव के चलते मेडिकल वीजा को मंजूरी दिए जाने की प्रॉसेस धीमी हो गई है


नीतीश ने महागठबंधन को धोखा दिया, 3-4 महीने से चल रही थी प्लानिंग: राहुल
27 July 2017
नई दिल्ली. बिहार में नीतीश कुमार के बीजेपी का दामन थामने पर लालू प्रसाद के बाद अब राहुल गांधी ने निशाना साधा है। उन्होंने कहा नीतीश कुमार की यह प्लानिंग तीन-चार महीने से चल रही थी और उन्हें इसके बारे में पता था। इससे पहले लालू ने भी बुधवार को माना था कि बिहार में जाे कुछ हुआ उसकी स्क्रिप्ट काफी पहले लिखी जा चुकी थी। यानी कांग्रेस और आरजेडी काे सब कुछ मालूम होने के बाद भी वे महागठबंधन को बचाने में नाकाम रहीं।
राहुल ने कहा- यह हिंदुस्तान की पॉलिटिक्स की प्रॉब्लम है..... - राहुल ने कहा, "3-4 महीने से हमें पता था ये प्लानिंग चल रही है। अपने स्वार्थ के लिए व्यक्ति कुछ भी कर जाता है। कोई नियम, क्रेडिबिलिटी नहीं है। सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ लड़ाई की वजह से नीतीश जी को बहुमत मिला था, लेकिन अब उन्होंने अपनी राजनीति के लिए उन्हीं लोगों से हाथ मिला लिया है।"
नीतीश के इस्तीफे पर क्या बोले थे लालू? - लालू बोले, "नीतीश बीजेपी से मिले हुए हैं। ये सबकुछ पहले से सेट था। वे बीजेपी और आरएसएस के साथ हैं। उन्होंने कहा था कि मिट्टी में मिल जाएंगे लेकिन भाजपा से हाथ नहीं मिलाएंगे। बोले थे कि संघ मुक्त भारत बनाना चाहते हैं। अब देख लीजिए। खुद मर्डर के आरोपी हैं। यह बात उन्होंने खुद चुनाव आयोग को दिए एफिडेविट में बताई है।" "मैंने रात को भी नीतीश से बात की थी। कहा था कि कोई गलतफहमी है, तो बैठकर तय करो कि क्या करना है? नीतीश कुमार ने 40 मिनट तक बात की। उन्होंने कहा था कि मैंने कोई इस्तीफा नहीं मांगा था। मीडिया में खुद नीतीश कुमार ने इस्तीफा ना मांगने की


प्रणब मुखर्जी ने 500 पाइप दिए दान, 24 साल पहले छोड़ी थी स्मोकिंग
24 July 2017
नई दिल्ली. रविवार को प्रणब मुखर्जी की राष्ट्रपति के तौर पर औपचारिक विदाई हो गई। हालांकि उनका कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है। इस दौरान उन्होंने कई यादें ताजा की। उन्होंने गिफ्ट में मिले करीब 500 पाइप राष्ट्रपति भवन के म्यूजियम में दान कर दिए। प्रणब 24 साल पहले तक स्मोकिंग करते थे। सेहत की वजह से उन्हें यह छोड़ना पड़ा। फिर उन्होंने पाइप पीना शुरू कर दिया, लेकिन बिना निकोटिन। वह भी सिर्फ इसलिए कि उनका शौक बरकरार रहे।
प्रणब के पाइप के शौक से जुड़े कुछ रोचक किससे.... - प्रणब मुखर्जी ने बांग्लादेशी राष्ट्रपति अब्दुल हमीद को राष्ट्रपति भवन में स्मोकिंग की इजाजत दे दी थी, जबकि पूरा राष्ट्रपति भवन ही नो स्मोकिंग जोन है। - बाद में प्रणब की तरह हमीद ने भी स्मोकिंग छोड़ दी।
इंदिरा कहती थीं- प्रणब के मुंह से राज नहीं, सिर्फ धुआं निकलेगा - इंदिरा गांधी को प्रणब मुखर्जी पर काफी भरोसा था। वे कहती थीं, ‘कोई कितनी भी शिद्दत से कोशिश कर ले। वह प्रणब के मुंह से एक शब्द नहीं निकलवा सकता। वे सिर्फ उनके पाइप से निकलता हुआ धुंआ ही देख सकते हैं।’
जेल जाने के लिए पाइप-माचिस लेकर तैयार थे प्रणब - 3 अक्टूबर 1977 को सीबीआई ने इंदिरा गांधी को बंदी बना लिया। प्रणब इस बारे में लिखते हैं- ‘मैं घर पर था। तब लगा कि मुझे भी गिरफ्तार किया जाएगा। तब मैं पाइप, तंबाकू, माचिस और छोटे बॉक्स के साथ लॉन में टहलता रहा, लेकिन पुलिस नहीं आई। - कार्टूनिस्ट पी.के. कुट्‌टी हमेशा प्रणब को पाइप पीते हुए ही दिखाते थे। यह उनकी पहचान बन गया था। एक बार मजाक में प्रणब ने भी कहा था इन कार्टून की वजह से ही मैंने स्मोकिंग करना छोड़ दिया।


सुषमा ने कहा- चीन फौज हटाए तो हम भी अपनी सेना हटाने के लिए हैं तैयार
21 July 2017
नई दिल्ली. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने गुरुवार को कहा कि भूटान के साथ ट्राई जंक्शन के हालात में चीन एकतरफा बदलाव करना चाहता है। यह भारत की सुरक्षा के लिए चुनौती है। सिक्किम सीमा पर चीन के साथ जारी टकराव को लेकर सुषमा स्वराज ने राज्यसभा में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि चीन के साथ सीमा विवाद के मामले में सभी देश भारत के साथ हैं। दोनों देशों के बीच पंचशील का सिद्धांत आज भी चल रहा है। उन्होंने कहा, ‘चीन भारत से लगे देशों में बंदरगाह और माल ढुलाई सेवा ढांचे के साथ ही पाकिस्तान के साथ आर्थिक गलियारा विकसित कर रहा है। वह वन बेल्ट वन रोड भी बना रहा है। चीन की इन गतिविधियों पर भारत चौकन्ना है। हमें कोई घेर नहीं सकता है।’ उन्होंने बताया कि भारत-चीन सीमा पर एक जगह ऐसी है, जिसे ट्राई जंक्शन प्वाइंट कहते हैं। इसे लेकर भारत-चीन के बीच लिखित सहमति है। इसके पैरा 13 में लिखा है कि इससे जुड़े फैसले भारत-चीन और भूटान मिलकर करेंगे। चीन की हरकतों पर भारत के विरोध नहीं जताने के आरोप उन्होंने खारिज कर दिए। सुषमा ने कहा कि हमने तभी विरोध प्रकट किया था और मित्र देशों को भी सूचित किया था। सुषमा ने कहा कि अभी भारत-चीन सीमा तय होनी है। चीन-भूटान की सीमा भी तय होनी है। भारत-चीन विवाद का मूल कारण है कि चीन भारत-चीन और भूटान की संयुक्त सीमा डोकलाम के पास सेना लेकर पहुंच गया। इसलिए भारतीय सेना भी वहां तैनात है। चीन अगर अपनी फौज हटा ले तो हम भी अपनी सेना हटाने के लिए राजी हैं।
डोवाल 27 को जाएंगे.. नई दिल्ली, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल 27 जुलाई को चीन जाएंगे। वे बीजिंग में ब्रिक्स देशों की बैठक में शामिल होंगे।
दोनों देशों का डिप्लाेमेटिक चैनलों से विवाद सुलझाने पर जोर भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने कहा है कि मतभेदों को विवाद नहीं बनने देना चाहिए। हम भूटान सरकार से संपर्क में हैं। हम चीन के साथ सीमा मसले को शांतिपूर्वक सुलझाना चाहते हैं। इसके लिए डिप्लोमेटिक चैनलों का उपयोग किया जा रहा है। चीन के विदेश मंत्रालय ने भी कहा है कि डिप्लोमेटिक चैनल खुले हुए हैं। लेकिन किसी भी सार्थक बातचीत के लिए भारतीय सेना को डोकलाम से हटना होगा।
हिंदू राष्ट्रवाद भारत को युद्ध की तरफ ले जा सकता है : चीनी अखबार चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने गुरुवार को कहा कि सीमा पर विवाद भारत में उभर रहे ‘हिंदू राष्ट्रवाद’ का एक अंकुर है जिसने भारत की चीन नीति का अपहरण कर लिया है और इससे दोनों देशों के बीच युद्ध हो सकता है। अखबार की एक टिप्पणी के मुताबिक, ‘राष्ट्रवादी उत्साह में चीन के खिलाफ बदला लेने की मांग भारत के भीतर उठ रही है। नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री चुने जाने के बाद से देश में राष्ट्रवादी भावनाओं को बढ़ावा मिला है।’ लेख में यू निंग ने कहा, ‘विदेशी संबंधों में खास तौर से चीन व पाकिस्तान जैसे देशों पर कड़ी कार्रवाई की मांग उठी है।’ लेख में कहा गया, ‘बढ़ता धार्मिक राष्ट्रवाद भारत के अपने हितों को खतरे में डाल देगा। भारत को सावधान रहना चाहिए और धार्मिक राष्ट्रवाद से दो देशों को युद्ध में नहीं धकेलना चाहिए।’


याकूब की फांसी का विरोध करने वाले को कांग्रेस ने VP कैंडिडेट बनाया: शिवसेना
17 July 2017
नई दिल्ली.बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने गोपालकृष्ण गांधी को विपक्ष का उपराष्ट्रपति (Vice President) उम्मीदवार बनाए जाने पर सवाल उठाए हैं। शिवसेना स्पोक्सपर्सन संजय राउत ने अपोजिशन की मीटिंग में रविवार को दिए सोनिया गांधी के बयान पर कहा, ''किसकी सोच ओछी है? मैडमजी (सोनिया गांधी) गोपालकृष्ण गांधी ने 1993 मुंबई ब्लास्ट के दोषी याकूब मेमन की फांसी का विरोध किया था। उन्होंने याकूब को बचाने के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी। ऐसे शख्स को उपराष्ट्रपति का उम्मीदवार बनाना आपकी कौन-सी मानसिकता दिखाता है। क्या इन्हें उपराष्ट्रपति बनाना चाहते हैं?''
कांग्रेस बोली- शिवसेना सबूत दे.. - राउत ने आगे कहा, ''हम विरोध नहीं करते, लेकिन जब देशहित और राष्ट्रीय सुरक्षा की बात आती है, तब करना पड़ता है। याकूब ने पाकिस्तान के साथ मिलकर आतंकी हमले को अंजाम दिया। गोपालकृष्ण ने उसी याकूब को बचाने के लिए चलाई गई मुहिम को लीड किया। फांसी की सजा रद्द कराने के लिए राष्ट्रपति को लेटर लिखा।'' - इस पर कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी ने कहा है कि गोपालकृष्ण गांधी पर सवाल उठाने से पहले शिवसेना इस बात की जानकारी दे कि उन्होंने फांसी रोकने के लिए क्या किया था। - बता दें कि गोपालकृष्ण गांधी मंगलवार को नॉमिनेशन फाइल करेंगे। इस दौरान सोनिया और राहुल गांधी समेत अपोजिशन के कई नेता उनके साथ मौजूद रहेंगे। गोपालकृष्ण सोमवार को ही नॉमिनेशन फाइल करने वाले थे, लेकिन राष्ट्रपति चुनाव की वोटिंग के चलते इसे एक दिन आगे बढ़ाया गया। वहीं, आज होने वाली बीजेपी पार्लियामेंट्री बोर्ड की मीटिंग में सरकार अपने कैंडिडेट के नाम का एलान करेंगी।
ये लड़ाई ओछी और सांप्रदायिक सोच के खिलाफ - राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग से पहले सोनिया ने कहा था, ''ये लड़ाई लड़ाई ओछी और सांप्रदायिक सोच के खिलाफ है। इस चुनाव में आंकड़े हमारे खिलाफ हो सकते हैं, लेकिन हमें मजबूती से लड़ाई लड़नी चाहिए। देश-समाज को संकट से निकालने के लिए मीरा कुमार और गोपालकृष्ण गांधी को राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति बनाएंगे। इसके लिए हम सब साथ हैं।'' - ''राष्ट्रपति-उपराष्ट्रपति देश के संवैधानिक मुखिया होते हैं। संविधान और कानून की रक्षा का जिम्मा इनके पास है। हम देश को ओछी और सांप्रदायिक सोच रखने वालों के भरोसे नहीं छोड़ सकते हैं।'' - मानसून सेशन और चुनाव पर स्ट्रैटजी तैयार करने के लिए विपक्ष ने मीटिंग बुलाई थी। इसमें यूपीए की राष्ट्रपति उम्मीदवार मीरा कुमार और उपराष्ट्रपति उम्मीदवार गोपालकृष्ण गांधी भी शामिल हुए थे
'कौन हैं गोपालकृष्ण गांधी? - 71 साल के गोपाल कृष्ण गांधी का जन्म 22 अप्रैल 1946 को हुआ। उनके पिता देवदास बापू और कस्तूरबा गांधी के सबसे छोटे बेटे थे। मां का नाम लक्ष्मी था और वो फ्रीडम फाइटर तथा कांग्रेस के सीनियर लीडर सी. राजगोपालाचारी की बेटी थीं। - गोपालकृष्ण 1968 में आईएएस बने। 2004 से 2009 के बीच वो वेस्ट बंगाल के गवर्नर रहे। ये वो दौर था जब 294 मेंबर्स वाली असेंबली में अकेले लेफ्ट के 235 विधायक थे। इसी दौरान बंगाल में सिंगूर और नंदीग्राम जैसे हिंसक आंदोलन हुए। - 2008 में जब सिंगूर हिंसा की आग में जल रहा था तब गोपालकृष्ण गांधी ही थे जिन्होंने बुद्धदेव भट्टाचार्य और ममता को बातचीत के लिए राजी किया। लेफ्ट की ताकत बंगाल में कम होती गई और ममता बनर्जी नई ताकत के तौर पर सामने आईं। - गांधी सेंट स्टीफंस कॉलेज से निकले हैं। आईएएस बनने के बाद 80 के दशक तक वो तमिलनाडु में तैनात रहे। 1985 से 1987 तक वो वाइस प्रेसिडेंट के सेक्रेटरी रहे। अगले पांच साल तक वो प्रेसिडेंट के ज्वॉइंट सेक्रेटरी रहे। - 1992 से 2003 तक वो कई डिप्लोमैटिक पोस्ट्स पर रहे। 1996 में साउथ अफ्रीका में इंडियन हाईकमिश्नर, 1997 से 2000 तक प्रेसिडेंट के सेक्रेटरी, 2000 में श्रीलंका में हाईकमिश्नर रहे। 2002 के बाद गांधी नॉर्वे और आयरलैंड में एम्बेसडर रहे।


मैं एक आम नागरिक के तौर पर जंगीपुर वापस आऊंगा: प्रणब मुखर्जी
15 Jul 2017
जंगीपुर (वेस्ट बंगाल). जंगीपुर वो जगह है, जहां से प्रेसिडेंट प्रणब मुखर्जी ने 2004 में पहली बार लोकसभा चुनाव जीता था। शुक्रवार को वे यहां बतौर प्रेसिडेंट आखिरी बार पहुंचे, तो उनकी एक झलक पाने काे लोग बेताब हो उठे। सड़काें और खेतों में लोग मोबाइल फोन से उनकी और उनके काफिले की तस्वीरें ले रहे थे। यहां प्रेसिडेंट ने लोगों से कहा कि अब वो यहां एक आम नागरिक की तरह आएंगे। बता दें कि मुखर्जी का प्रेसिडेंट पोस्ट पर टेन्योर इसी महीने पूरा हो रहा है।
केकेएम रूरल फुटबॉल टूर्नामेंट का किया इनॉगरेशन...... - यहां मेकेंजी फुटबॉल ग्राउंट पर केकेएम रूरल फुटबॉल टूर्नामेंट का इनॉगरेशन करते वक्त मुखर्जी ने कहा, अब वे यहां प्रेसिडेंट के तौर पर नहीं आएंगे, क्योंकि 10 दिन बाद उनका टर्म पूरा हो रहा है। - प्रेसिडेंट ने जब कहा कि वो देश के 130 करोड़ नागरिकों में से एक होंगे और एक आम नागरिक की तरह वापस आएंगे, इस पर लोगों ने तालियां बजाईं। - बता दें कि मुखर्जी ने अपने पिता कमाका किमकर मुखर्जी की याद में केकेएम गोल्ड कप फुटबॉल टूर्नामेंट 2010 में शुरू किया था। - शुक्रवार को इस टूर्नामेंट में मोहन बागान और ईस्ट बंगाल की अंडर-19 टीम के बीच मुकाबला हुआ। एक्स्ट्रा टाइम तक चले इस मैच में मोहान बगान ने पेनाल्टी शूटआउट से जीत दर्ज की।
गर्मी के बावजूद सड़कों पर उमड़ी भीड़ -- उमसभरे मौसम के बावजूद बतौर प्रेसिडेंट आखिरी बार यहां आए मुखर्जी की एक झलक पाने को लोग बेताब थे। - मुखर्जी ने भी लोगों को निराश नहीं किया और लगातार हाथ हिलाकर उनका अभिवादन करते रहे, क्योंकि इन्हीं लोगों ने उन्हें 2004, फिर 2009 में लोकसभा चुनाव जिताया था। - मुखर्जी ने 1969 में बतौर राज्यसभा मेंबर सार्वजनिक जीवन की शुरुआत की थी। इसके बाद वो सरकार के कई अहम पदों पर रहे।
भावुक कर देने वाली थी यह यात्रा जंगीपुर में उनकी आज की यह यात्रा भावुक कर देने वाली थी। वे यहां अपने बेटे अभिजीत मुखर्जी के बनाए मकान "जंगीपुर हाउस" में लोगों से मिले। - 2012 में प्रणब मुखर्जी के प्रेसिडेंट बनने के बाद यहां से अभिजीत ने लोकसभा चुनाव जीता। - घर की ओर जाती संकरी सड़कों से जब मुखर्जी का काफिला गुजरा तो धान के खेतों में खड़ी भीड़ में से कई लोगों ने यह पल अपने मोबाइल में कैद कर लिया।
'मैंने लिखी है प्रेसिडेंट की बायोग्राफी' -- मुखर्जी का सोनातिगिरी में करीब एक एकड़ में बना बहुत साधारण सा घर है। घर के हॉल में प्रणब मुखर्जी की पत्नी सुव्रा मुखर्जी की बड़ी सी तस्वीर लगी है। - इस घर में चहल-पहल थी। लोग यहां मुखर्जी से मिलने के लिए उनका इंतजार कर रहे थे। - मुखर्जी का इंतजार कर रहे सुशील भट्टाचार्य ने कहा, "मैंने प्रेसिडेंट की बायोग्राफी लिखी है। मेरे बड़े भाई उनके साथ पढ़े थे। मैं उन्हें 1970 के दशक से जानता हूं।" - एक पुराना सा एलबम और मुखर्जी पर उनकी लिखी किताब दिखाते हुए भट्टाचार्य ने अफसोस जताया कि पुलिस उन्हें अंदर नहीं जाने दे रही। हालांकि, कुछ देर बाद उन्हें अंदर जाने की इजाजत दे दी गई। - मुखर्जी के एक और पुराने दोस्त और चार बार कांग्रेस से विधायक रहे समर मुखर्जी भी उन लोगों में थे, जो प्रणब मुखर्जी से मिलने के लिए उनका इंतजार कर रहे थे। - प्रणब की एक परिचित उनके लिए खीर भी लाई थी, जो उसने अभिजीत को दे दी।
लाेगों को बांटेंगे LPG कनेक्शना -बता दें कि प्रेसिडेंट शनिवार को दिल्ली वापस आएंगे। इससे पहले वे नाबाग्राम में रिटायर्ड इम्प्लॉई की एक रैली को एड्रेस करेंगे और गांव वालों को एलपीजी कनेक्शन डिस्ट्रीब्यूट करेंगे


उपराष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष की तरफ से गोपालकृष्ण गांधी होंगे उम्मीदवार
11 Jul 2017
नई दिल्ली. उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार तय करने के लिए कांग्रेस और बाकी बड़ी अपोजिशन पार्टियों ने मंगलवार को मीटिंग की। सूत्रों के मुताबिक मीटिंग में गोपालकृष्ण गांधी का नाम विपक्ष के उम्मीदवार के तौर पर तय किया गया। गोपालकृष्ण महात्मा गांधी के पोते हैं। वहीं, बीजेपी की ओर से कैंडिडेट 13 या 14 जुलाई को तय किए जाने की उम्मीद है।
1) 18 पार्टियों ने सर्वसम्मति से तय किया नाम... - अपोजिशन की मीटिंग पार्लियामेंट लाइब्रेरी बिल्डिंग में हुई। जिसमें कांग्रेस, जेडीयू समेत 18 पार्टियां शामिल हुईं। सभी पार्टियों ने सर्वसम्मति से गांधी का नाम तय किया। मीटिंग की शुरुआत में अमरनाथ यात्रा पर हुए आतंकी हमले में जान गंवाने वाले लोगों के लिए मौन रखा गया। - बता दें कि राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद जबकि विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार हैं। राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग 17 जुलाई को होगी। मीरा कुमार और रामनाथ कोविंद नॉमिनेशन कर चुके हैं।
कौन हैं गोपालकृष्ण गांधी? - गोपालकृष्ण महात्मा गांधी के पोते हैं। वे रिटायर्ड आईएएस अफसर और डिप्लोमैट भी रहे हैं। गोपालकृष्ण 2004 से 2009 तक वेस्ट बंगाल के 22वें गवर्नर भी थे।
मीटिंग में नीतीश शामिल नहीं हुए उपराष्ट्रपति उम्मीदवार तय करने के लिए हुई अपोजिशन की मीटिंग में नीतीश कुमार शामिल नहीं हुए। उनकी पार्टी की ओर से इसमें सीनियर लीडर शरद यादव मौजूद रहे। - बता दें कि जेडीयू ने एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का सपोर्ट करने का एलान किया है
मीटिंग में ये नेता हुए शामिल - सोनिया गांधी, राहुल गांधी, मनमोहन सिंह, टीएमसी के डेरेक ओ ब्रायन, सीपीआईएम के सीताराम येचुरी, नेशनल कॉन्फ्रेंस के उमर अब्दुल्ला, जेडीएस के देवगौड़ा, सपा के नरेश अग्रवाल, बीएसपी के सतीश चंद्र मिश्रा और आरएलडी के अजीत सिंह। इनके अलावा आरजेडी के जय प्रकाश यादव, जेएमएम के हेमंत सोरेन, सीपीआई के डी राजा के साथ ही सीएमके, एनसीपी और केरल कांग्रेस के रिप्रेजेंटेटिव्स भी शामिल हुए।
मानसून सत्र के एजेंडे पर भी हुई चर्चा - अपोजीशन पार्टियों की मीटिंग में लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती के ठिकानों पर पड़े सीबीआई छापों, जीएसटी, नोटबंदी, किसानों की आत्महत्या के अलावा संसद के मानसून सत्र के एजेंडे पर भी चर्चा की गई। - संसद का मानसून सत्र 17 जुलाई से शुरू होगा। इस दौरान अपोजीशन मीसा भारती और उनके पति के ठिकानों पर पड़े सीबीआई और ईडी के छापों पर विरोध दर्ज करा सकता है।


IITs में एडमिशन पर लगी रोक SC ने हटाई, 50 हजार स्टूडेंट्स को मिली राहत
10 Jul 2017
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट इंडियन इंस्टीटयूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IITs) में ज्वाइंट एंट्रेस एग्जामिनेशन (JEE) (एडवांस) के तहत हो रही काउंसलिंग और एडमिशन पर लगी रोक सुप्रीम कोर्ट ने हटा ली है। SC के फैसले ने एग्जाम क्वालिफाई करने वाले 50 हजार 455 स्टूडेंटस को राहत दी है। इनमें से 33 हजार से ज्यादा स्टूडेंट्स अब तक एडमिशन ले चुके हैं। बता दें कि इस एग्जाम में ग्रेस मार्क्स देने को पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी। कोर्ट ने केंद्र सरकार और आईआईटी मद्रास को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था।SC ने शुक्रवार को एडमिशन पर अगले आदेश तक रोक लगा दी थी। बता दें कि DainikBhaskar ने यह मुद्दा उठाया था।
रोक हटाने पर क्या कहा SC ने...
1) दोबारा ऐसे हालात ना हों. - जस्टिक दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खानवलकर और जस्टिस एमएम शांतानागौदार ने कहा, "ग्रेस मार्क्स देने के सिलसिले में दायर पिटीशन पर हाईकोर्ट्स दखल ना दें ताकि भ्रम की स्थिति ना हो। इस तरह की गलतियां दोबारा ना हों और ऐसे हालात ना हों जिसमें बोनस मार्क्स देने की नौबत आए।" - IITs की तरफ से पेश हुए अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि आने वाले समय में ऐसे हालात सामने नहीं आएंगे।
2) बोनस मार्क्स पर IITs की मीटिंग का जिक्र - बेंच ने कहा, "इस मामले में 2005 के गुरुनानक यूनिवर्सिटी केस के फैसले को लागू नहीं किया जा सकता है। इस मसले में बड़ी संख्या में स्टूडेंट शामिल हैं और इसके साथ-साथ एग्जाम में निगेटिव मार्किंग सिस्टम भी था। इसके अलावा IITs के एक्सपर्ट्स ने ये फैसला लेने के लिए दो बार मीटिंग की कि गलत सवालों के लिए भी बोनस मार्क्स दिए जाने चाहिए या नहीं।" - इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने 2005 के जजमेंट के आधार मानते हुए कहा था कि बोनस मार्क्स उन लोगों को नहीं दिए जा सकते जिन्होंने गलत सवालों के लिए क्वेश्चन अटेम्प्ट ही नहीं किया है।
अटॉर्नी जनरल ने क्या जवाब दिया? - AG वेणुगोपाल ने कहा, "एग्जाम में हर गलत जवाब के लिए निगेटिव मार्किंग भी थी और ऐसे भी स्टूडेंट होंगे जिन्होंने इसके चलते क्वेश्चन अटेम्ट ना करने का फैसला किया होगा। इसलिए सभी स्टूडेंट्स को बोनस मार्क्स दिए गए।' - "एग्जाम देने वाले 2 लाख स्टूडेंट्स की कॉपी की दोबारा जांच मुश्किल थी। ऐसे में सभी को बोनस मार्क्स देना ही सबसे प्रैक्टिल सॉल्यूशन था।'
पिछली सुनवाई में क्या हुआ - कोर्ट ने हाईकोर्ट के सामने पेंडिंग पिटीशन की जानकारी भी मांगी। साथ ही JEE रैंक लिस्ट को चुनौती देने वाली पिटीशंस के बारे में जानकारी देने को कहा।
सरकार ने क्या जवाब दिया था?. विकास सिंह (पिटीशनर्स के वकील): सभी को ग्रेस देना बाकी स्टूडेंट्स के अधिकारों का हनन है। जस्टिस दीपक मिश्रा: समाधान एक ही है। जिन्होंने सवाल हल करने की कोशिश की उन्हें ही ग्रेस दें। हम 2005 में दिए इस कोर्ट के फैसले के मुताबिक जाएंगे। जिन्होंने कोशिश नहीं की, उन्हें बोनस मार्क्स क्यों दें? केके वेणुगोपाल (अटॉर्नी जनरल): जेईई में निगेटिव मार्किंग थी। मुमकिन है कि मार्क्स कटने के डर से कुछ स्टूडेंट्स ने गफलत वाले सवालों के जवाब न दिए हों। इसलिए सबको ग्रेस दिए। नहीं तो इन सवालों के मार्क्स हटाने पड़ते। दो लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स ने परीक्षा दी थी। सबकी आंसर शीट फिर जांचना मुश्किल था। इसलिए सभी छात्रों को एक जैसे 18 ग्रेस मार्क्स देने का फैसला किया गया था। वैसे भी अब तक 33 हजार से ज्यादा स्टूडेंट्स दाखिला ले चुके हैं।जस्टिस मिश्रा: 33 हजार स्टूडेंट्स का फ्यूचर पहले ही अधर में लटक चुका है। आखिरी उपाय के तौर पर आईआईटी जेईई-2017 के आधार पर आगे दाखिले न करें। गलत सवालों के बोनस मार्क्स देने की लीगलिटी पर फैसले के बाद ही आईआईटी में दाखिले किए जाएं।
देशभर में 3289 इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट. देश में 3289 इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट हैं। इनमें 23 आईआईटी, 31 एनआईटी और 19 आईआईआईटी हैं। इन इंस्टीट्यूशंस में इंजीनियरिंग की कुल 15 लाख 53 हजार 809 सीटें हैं।
विवाद क्या है? - दरअसल, JEE- 2017 एडवांस के एग्जाम में उन स्टूडेंट्स को भी ग्रेस मार्क्स दिए गए थे, जिन्होंने सवाल को हल करने की कोशिश भी नहीं की थी। नियम के मुताबिक, ग्रेस मार्क्स सिर्फ उनको ही दिए जाते हैं, जो सवाल छोड़ने के बजाए उन्हें हल करने की कोशिश करते हैं। इस एग्जाम में सभी स्टूडेंट्स को 18 ग्रेस मार्क्स दिए गए थे। - पिटीशन में यह आरोप लगाया गया था कि ग्रेस मार्क्स से एग्जाम की मेरिट लिस्ट पर असर हुआ है, इसलिए दोबारा लिस्ट तैयार की जाए।
SC ने सरकार को नोटिस जारी किया था. - इस एग्जाम में बैठने वाली एक स्टूडेंट ऐश्वर्या अग्रवाल ने पिटीशन दायर कर मांग की थी कि जेईई 2017 की रैंक लिस्ट को रद्द किया जाए। - सुप्रीम कोर्ट ने 30 जून को केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर इस मामले में जवाब मांगा था। कोर्ट ने आईआईटी मद्रास की एग्जाम कंडक्ट करने वाली बॉडी‌ से पूछा था कि ऐसे स्टूडेंट्स को 7 एडिशनल ग्रेस मार्क्स क्यों दिए गए, जिन्होंने सवालों के जवाब देने की कोशिश ही नहीं की। इस एग्जाम में 50455 स्टूडेंट्स ने क्वालीफाई किया था - जेईई एडवांस्ड 2017 में 10 हजार 957 सीटों के लिए 1 लाख 59 हजार 540 स्टूडेंट्स अपीयर्ड हुए थे। इसमें 50 हजार 455 स्टूडेंट्स ने क्वालीफाई किया था। इनमें 43 हजार 318 ब्वॉयज और 7 हजार 137 गर्ल्स थीं


शादी के 30 दिन के भीतर रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य, देरी पर देना होगा जुर्माना
5 Jul 2017
नई दिल्ली. शादी का रजिस्ट्रेशन कराना जल्द ही अनिवार्य किया जा सकता है। लॉ कमीशन ने केंद्र को सलाह दी है कि विवाह के 30 दिन के भीतर पंजीकरण कराना अनिवार्य किया जाए। कमीशन ने 'विवाह का अनिवार्य पंजीकरण' नाम से अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपी है। साथ ही यह भी सिफारिश की है कि बिना किसी वाजिब वजह के विवाह के पंजीकरण में देरी के लिए 5 रुपए प्रति दिन के हिसाब से जुर्माना वसूला जाए। कमीशन ने अपनी रिपोर्ट में यह भी जोड़ा है कि जुर्माने की अधिकतम रकम 100 रुपए रखी जाए। शादी के अनिवार्य पंजीकरण के समर्थन में आयोग ने कहा है कि इससे बाल विवाह रोकने के लिए बने पहले से मौजूद कानूनों के बेहतर क्रियान्वयन में मदद मिलेगी। शादी के अनिवार्य रजिस्ट्रेशन से जबरन विवाह या नाबालिगों के विवाह के चलन को खत्म करने में मदद मिलेगी। शादियों में धोखाधड़ी रुकेगी। महिलाओं के हित सुरक्षित होंगे जिन्हें अक्सर शादी के दस्तावेजों के अभाव में पत्नी का दर्जा नहीं मिल पाता। सुप्रीम कोर्ट ने 2006 में ही शादी के पंजीकरण को अनिवार्य करने का आदेश दिया था। इसके बाद कुछ राज्य सरकार पहले ही कानून बनाकर अपने यहां विवाह के पंजीकरण को अनिवार्य बना चुके हैं।


SC ने 26 हफ्ते की प्रेग्नेंट महिला को दी अबॉर्शन की इजाजत, बच्चे को है बीमारी
3 Jul 2017
नई दिल्ली.सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को 26 हफ्ते की प्रेग्नेंट महिला को अबॉर्शन की इजाजत दी। ये महिला कोलकाता की रहने वाली है। मेडिकल रिपोर्ट्स में बच्चे को हार्ट से जुड़ी गंभीर बीमारी होने की जानकारी के बाद महिला और उसके पति ने अबॉर्शन के लिए सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई थी। रिपोर्ट्स में कहा गया है कि अगर महिला को प्रेग्नेंसी खत्म करने की इजाजत नहीं दी गई तो ये उसके लिए गंभीर मानसिक चोट की तरह होगी। बता दें कि देश में 20 हफ्ते के बाद अबॉर्शन कराना गैर-कानूनी है। ऐसा करने पर 7 साल की सजा हो सकती है।
ईसीजी जांच में बीमारी का पता चला... - जस्टिस दीपक मिश्रा और जस्टिस एम खानविलकर की बेंच ने कहा कि अबॉर्शन की प्रॉसेस फौरन एसएसकेएम हॉस्पिटल, कोलकाता में कराई जाए। रिपोर्ट्स में बताया गया है कि अगर महिला को प्रेग्नेंसी खत्म करने की इजाजत नहीं देना उसके लिए गंभीर मानसिक चोट के जैसी होगी। वहीं, अगर डिलिवरी के बाद बच्चा जिंदा रहता है तो कई बार हार्ट की सर्जरी करनी पड़ेगी। - 23 जून को पिटीशन पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने पश्चिम बंगाल सरकार को 7 मेंबर्स का मेडिकल बोर्ड बनाने और प्रेग्नेंसी की रिपोर्ट तैयार कर पेश करने का ऑर्डर दिया। तब महिला 24 हफ्ते की प्रेग्नेंट थी। 25 मई को जांच में बच्चे को गंभीर बीमारी होने की बात पता चली थी। इसे कंफर्म करने के लिए 30 मई को दोबार ईसीजी कराई गई। - पिटीशन में मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी (MTP) एक्ट, 1971 को भी चैलेंज किया गया, जो 20 हफ्ते से ज्यादा के अबॉर्शन की इजाजत नहीं देता है। इसमें कहा गया कि 1971 में टेक्नोलॉजी एडवांस नहीं थी, लेकिन अब 26 हफ्ते और उससे ज्यादा का अबॉर्शन आसानी से हो सकता है।
26 हफ्ते में अबॉर्शन कराने की इजाजत नहीं दी थी... - सुप्रीम कोर्ट ने फरवरी महीने में एक महिला को 26 हफ्ते की प्रेग्नेंसी में अबॉर्शन कराने की इजाजत देने से इनकार कर दिया था। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा, "हमारे हाथों में एक जिंदगी है। हम उसे खत्म करने की इजाजत कैसे दे सकते हैं।" इस केस में बच्चे को डाउन्स सिंड्रोम था। इसी आधार पर महिला ने अबॉर्शन की इजाजत मांगी थी। - सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट के मुताबिक, प्रेग्नेंसी की हालत में 37 साल की इस मां को फिजिकली कोई खतरा नहीं। जस्टिस एसए बोबड़े और एलएन राव की बेंच ने कहा था, "हालांकि सब जानते हैं कि डाउन्स सिंड्रोम वाले बच्चे बेशक कम इंटेलिजेंट होते हैं, लेकिन बढ़िया होते हैं। मुमकिन है कि बच्चे में फिजिकली या मेंटली प्रॉब्लम्स हों, लेकिन डॉक्टरों की सलाह अबॉर्शन कराने की इजाजत नहीं देती।"
ऐसे ही एक केस में दी थी अबॉर्शन की इजाजत.. - जनवरी, 2017 में सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे ही एक मामले में मुंबई की महिला को 24 हफ्ते की प्रेग्नेंसी में अबॉर्शन की इजाजत दे दी थी। ये फैसला भी जस्टिस एसए बोबड़े और एलएन राव की बेंच ने दिया था। - महिला की मेडिकल रिपोर्ट से पता चला था होने वाले बच्चे का सिर पूरी तरह डेवलप नहीं हो पाया है और उसका बचना मुश्किल है। बेंच ने ऑर्डर दिए थे कि अबॉर्शन की प्रोसेस के लिए केईएम हॉस्पिटल के डॉक्टर्स की टीम इसका पूरा रिकॉर्ड रखे।
क्या है कानून?... - मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट के मुताबिक, 20 हफ्ते तक अबॉर्शन की इजाजत है। संशोधित बिल में इसे बढ़ाकर 24 हफ्ते करने की सिफारिश की गई है। लेकिन, फिलहाल इसे संसद से मंजूरी नहीं मिली।


आज से कई अहम चीजों के लिए ‘आधार’ जरूरी, बिना आधार भी
1 Jul 2017
नई दिल्ली. आधार कार्ड (विशिष्ट पहचान पत्र) आपके जीवन का आधार बनता जा रहा है। एक जुलाई, 2017 से कई महत्वपूर्ण चीजों के लिए ‘आधार’ देने को जरूरी बना दिया गया है। ऑनलाइन रिटर्न भरने से लेकर पासपोर्ट बनवाने तक आपको ‘आधार’ नंबर देना होगा। हालांकि कई सरकारी योजनाओं का लाभ 30 सितंबर तक बिना ‘आधार’ के भी मिलता रहेगा। केंद्र सरकार ने हाल में सुप्रीम कोर्ट में यह जानकारी दी है।
किन-किन चीजों के लिए जरूरी हुआ ‘आधार’ नंबर देना..... सरकार ने पैन नंबर को ‘आधार’ से जोड़ना अनिवार्य कर दिया है। सीए हिमांशु कुमार के मुताबिक इससे सरकार-उपभोक्ता दोनों को फायदा है। पैन से दो मिनट में आयकर रिटर्न ऑनलाइन दाखिल किया जा सकता है। वहीं, कई लोग हैं ऐसे जो दो-तीन पैन कार्ड रखते हैं और टैक्स चोरी के लिए इनके जरिये फर्जीवाड़ा करते हैं। इस पर रोक लगेगी।
पासपोर्ट के लिए.... पासपोर्ट बनवाने में ‘आधार’ को अनिवार्य करने से व्यक्ति की पहचान की सही जांच करने में आसानी होगी। बायोमैट्रिक्स जांच के होने से काम आसान हो जाएगा। फर्जी पासपोर्ट या एक ही व्यक्ति के दो पासपोर्ट बनाए जाने की संभावना खत्म होगी।
स्कॉलरशिप के लिए..... सरकारी स्कूल-कॉलेज में भी ‘आधार’ से लिंक नहीं होने वाले छात्र-छात्राओं को स्कॉलरशिप नहीं मिल पाएगी। इससे स्कॉलरशिप के नाम पर घोटाला नहीं हो सकेगा। योग्य छात्र इससे वंचित नहीं हो पाएंगे।
पीएफ खाते के लिए.... भविष्य निधि खाते को आधार से जोड़ना अनिवार्य करने से अब भविष्य निधि के सेटलमेंट की प्रक्रिया आसान हो जाएगी। पीएफ का भुगतान सही व्यक्ति को ही होगा। खाते से पैसा निकालना आसान होगा।
टिकट के लिए... रेलवे का रियायती टिकट लेना हो तो भी आधार जरूरी रहेगा। इससे रियायत के हकदार को ही फायदा मिलेगा। गलत पहचान देकर कोई फर्जी तरीके से रियायत नहीं ले पाएगा।


दिल्ली मेट्रो की वॉयलट लाइन पर ट्रैफिक चरमराया, एक घंटे तक बंद रहे सिग्नल
30 Jun 2017
नई दिल्ली.तकनीकी खराबी के चलते शुक्रवार को मेट्रो की वॉयलट लाइन पर ट्रेन ट्रैफिक चरमरा गया। इसके चलते सुबह पीक ऑवर्स में लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। डीएमआरसी के एक अफसर ने बताया, ''फरीदाबाद से कश्मीरी गेट तक मेट्रो चलाने में दिक्कत आई। सिग्नलों में खराबी आने से कंट्रोल सेंटर से ट्रेनों का कॉन्टैक्ट टूट गया।'' बता दें कि वॉयलेट लाइन सेंट्रल सेक्रेटरिएट को फरीदाबाद से जोड़ती है।
ब्लू लाइन पर भी आई थी खराबी....... - डीएमआरसी के मुताबिक, खराबी के चलते सुबह 8 से 9 के बीच ट्रेनों को मैनुअली ऑपरेट करना पड़ा। एक घंटे में सिग्नल ठीक कर लिए गए। कुछ ट्रेन लेट भी हुई, लेकिन अब ट्रेन अपने टाइम पर चल रही हैं। - बता दें कि इस साल की शुरुआत में भी लगातार 2 दिन पॉवर लाइन में खराबी आने से ब्लू लाइन पर परेशानी हुई थी। तब भी सिग्नलों बंद हो गए थे और कंट्रोल सेंटर से ट्रेनों का कॉन्टैक्ट टूट गया। बाद में इन्हें मैनुअली ऑपरेट करना पड़ा था।


नैचुरल गैस GST में हो सकती है शामिल, तेल-गैस सेक्टर को राहत की उम्मीद
28 Jun 2017
नई दिल्ली. तेल और गैस सेक्टर को राहत देने के लिए GST (गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स) काउंसिल नैचुरल गैस को GST के दायरे में ला सकती है। अभी पांच पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स को GST से बाहर रखा गया है। इनमें नैचुरल गैस के अलावा क्रूड ऑयल, पेट्रोल, डीजल और एविएशन टर्बाइन फ्यूल (विमान ईंधन) शामिल हैं। गैस को GST में शामिल करने पर ओएनजीसी और रिलायंस इंडस्ट्रीज जैसी कंपनियों को फायदा मिल सकता है।
मुद्दे को एजेंडे में शामिल करने का है काफी दबाव...... - एक आला अफसर ने बताया कि GST के साथ एक बात तय हुई थी कि न तो सरकार को नुकसान हो, न ही इंडस्ट्री को। लेकिन पेट्रोलियम इंडस्ट्री को नुकसान हो रहा है। इसलिए पेट्रोलियम मिनिस्टरी ने फाइनेंशियल मिनिस्टरी से पांचों छूट वाली चीजों को जल्दी GST में शामिल करने की रिक्वेस्ट की है। - अफसर के मुताबिक, पांचों प्रोडक्ट पर एक साथ फैसला करना मुश्किल हो सकता है, लेकिन इस बात पर एक राय बनती लग रही है कि नैचुरल गैस को GST में शामिल कर लिया जाए। इसका ज्यादा इस्तेमाल इंडस्ट्री में ही होता है, इसलिए इसमें दिक्कत नहीं आनी चाहिए। - उन्होंने कहा कि GST काउंसिल की 30 जून को बैठक होनी है। अभी तक यह मुद्दा एजेंडे में नहीं है, लेकिन इसे शामिल करने का काफी दबाव है। गैस के बाद क्रूड ऑयल पर एक राय बनाने की कोशिश होगी
क्रेडिट नहीं मिलने से एक्स्ट्रा टैक्स का बोझ. -- पेट्रोलियम कंपनियां जो भी गुड्स या सर्विसेस खरीदेंगी, उस पर तय GST रेट लगेगा, लेकिन इनकी ओर से बेची गई गैस और तेल पर अभी की तरह एक्साइज ड्यूटी और वैट लगता रहेगा। दूसरी इंडस्ट्रीज की तरह इन्हें इनपुट टैक्स क्रेडिट का फायदा भी नहीं मिलेगा। इससे इस सेक्टर की कंपनियों पर 25,000 करोड़ रुपए का एडिशनल टैक्स का बोझ आएगा।
गैस पर क्रेडिट मिलने से 20% कम होगा नुकसान. - नैचुरल गैस को GST में शामिल करने पर इनपुट पर चुकाए गए टैक्स का कंपनियों को क्रेडिट मिल जाएगा। इससे इंडस्ट्री का नुकसान 20% कम जाएगा।
नहीं बढ़ेगी महंगाई: जेटली. -- फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली ने कहा कि GST लागू होने के बाद शुरुआत में कुछ मुश्किलें सकती हैं, लेकिन लंबे वक्त में इससे टैक्स चोरी और महंगाई कम करने में मदद मिलेगी। - एक प्रोग्राम में उन्होंने कहा कि रियल एस्टेट को अगले साल और पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स को दो साल में GST के दायरे में लाने की कोशिश होगी। - जेटली ने बताया कि पेट्रोलियम और शराब राज्यों के लिए टैक्स का बड़ा जरिया हैं। इसलिए वे इन पर टैक्स लगाने का अपना हक नहीं छोड़ना चाहते। अगर सेंट्रल गवर्नमेंट अड़ी रहती तो GST अभी लागू नहीं हो पाता। जेटली ने कहा, "निजी तौर पर मैं दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के प्रपोजल से सहमत था कि रियल एस्टेट को GST के दायरे में लाया जाना चाहिए, लेकिन दूसरे राज्य इस पर सहमत नहीं थे।"


इमरजेंसी आंदोलन में मेरा भी रोल, विरोधी नेता शोले के शो में शरण लेते थे: हेमा
27 Jun 2017
नई दिल्ली.बीजेपी सांसद हेमा मालिनी ने इमरजेंसी को लेकर नया दावा किया। सोमवार को उन्होंने कहा, ''इमरजेंसी के मुश्किल दौर में मेरी भी छोटी-सी भूमिका रही है। उस दौर में कई अपोजिशन लीडर छिपने के लिए उस सिनेमा हॉल का इस्तेमाल करते थे, जहां मेरी फिल्म दिखाई जा रही होती थी। बता दें कि इमरजेंसी के कुछ महीने बाद ही सुपरहिट 'शोले' रिलीज हुई थी।'' हेमा इमरजेंसी की 42 साल पूरे होने पर एक प्रोग्राम में बोल रही थीं। बता दें कि 26 जून 1975 से 21 मार्च 1977 तक 21 महीने के लिए भारत में इमरजेंसी घोषित की गई थी।
कांग्रेस क्रूर थी, इसीलिए आज ये हाल है...... - हेमा ने आगे कहा, ''25 जून, 1975 को इमरजेंसी लागू की गई। इसके बाद 15 अगस्त के दिन शोले देश के तमात सिनेमाघरों में दिखाई जाने लगी। तब ये फिल्म काफी भीड़ जुटा रही थी। इन दिनों कई राजनेताओं ने इमरजेंसी का विरोध शुरू कर दिया। इसके बाद तब की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने उनकी गिरफ्तारी के ऑर्डर दे दिए थे।'' - ''तब इमरजेंसी का विरोध कर रहे नेताओं ने गिरफ्तारी से बचने के लिए खचाखच भरे सिनेमाघरों में शरण ली थी, जहां शोले के शो चल रहे थे। भीड़ के बीच पुलिस भी इन्हें खोजने में नाकाम रहती थी। इसीलिए इमरजेंसी का विरोध करने वालों में मेरी भी कुछ भूमिका जरूर रही।'' - मथुरा से बीजेपी सांसद हेमा ने इमरजेंसी को देश का दुर्भाग्य बताया। उन्होंने कहा, ''तब कांग्रेस सरकार राजनेताओं और आम जनता दोनों के साथ क्रूरतापूर्ण बर्ताव कर रही थी। इसीलिए आज इस पार्टी की हालत इतनी दयनीय है।''
इमरजेंसी के खिलाफ लड़ने वाले महान: राम लाल. - बीजेपी के जनरल सेक्रेटरी (संगठन) राम लाल इस प्रोग्राम में बतौर अध्यक्ष मौजूद थे। उन्होंने कहा कि इमरजेंसी एक 'काली रात' की तरह थी, जिसने इसका विरोध किया, उसे कुचल दिया गया। - ''ये भारतीय लोकतंत्र का एक काला अध्याय है। इमरजेंसी के खिलाफ जेलें तोड़कर आंदोलन में शामिल होने वाले लोग महान हैं। उन्होंने ही आज लोकतंत्र को जिंदा रखा हुआ है।
इमरजेंसी को भुलाया नहीं सकता: मोदी. - मोदी ने रविवार को मन की बात में कहा, ''वह ऐसी काली रात थी, जिसे कोई भारतवासी भुला नहीं सकता है। देश को जेल में बदल दिया गया था। जयप्रकाश नारायण जैसे लोगों को जेल में बंद कर दिया गया था। अखबारों को पूरा बेकार कर दिया गया। पत्रकार उस काले कालखंड के प्रति जागरुकता बढ़ाने का काम करते रहें हैं।'' - "अटल जी ने अपनी कविता में उस मन:स्थित का वर्णन किया है। झुलसा जेठ मास...एक बरस बीत गया। सीखचों में सिमटा जग...। लोकतंत्र के प्रेमियों ने बड़ी लड़ाई लड़ी है और भारत जैसे विशाल देश के लोगों ने चुनाव में इस लोकतंत्र को सशक्त कर दिया।" - मोदी ने इमरजेंसी पर लिखी अटलजी की ये कविता भी सुनाई- झुलासाता जेठ मास, शरद चांदनी उदास, सिसकी भरते सावन का, अंतर्घट रीत गया, एक बरस बीत गया सीकचों मे सिमटा जग, किंतु विकल प्राण विहग, धरती से अम्बर तक, गूंज मुक्ति गीत गाया, एक बरस बीत गया।। पथ निहारते नयन, गिनते दिन पल छिन, लौट कभी आएगा, मन का जो मीत गया, एक बरस बीत गया।।


राष्ट्रपति चुनाव: मोदी-आडवाणी-शाह की मौजूदगी में कोविंद ने भरा नॉमिनेशन
23 Jun 2017
नई दिल्‍ली. एनडीए के राष्‍ट्रपति उम्‍मीदवार रामनाथ कोविंद ने संसद भवन में नॉमिनेशन फाइल कर दिया। उनके साथ नरेंद्र मोदी, लालकृष्ण आडवाणी, अमित शाह, मुरली मनोहर जोशी और सुषमा स्वराज मौजूद थे। अमित शाह और अन्य बीजेपी नेता भी पहले ही वहां पहुंच गए थे। जेडीयू ने कोविंद को सपोर्ट दिया है, लेकिन पार्टी का कोई नेता नॉमिनेशन के वक्त नहीं था। बता दें कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग 17 जुलाई होगी। काउंटिंग 20 जुलाई को कराई जाएगी। मौजूदा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का टेन्योर 24 जुलाई को खत्म होगा। अगर कोविंद चुने जाते हैं तो वे ऐसे पहले प्रेसिडेंट होंगे, जो यूपी से होंगे। देश में फिर प्रधानमंत्री-राष्ट्रपति, दोनों यूपी से होंगे। कोविंद के खिलाफ विपक्ष ने पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार को अपना दावेदार बनाया है।
नॉमिनेशन के पहले सेट का प्रपोजल पीएम की ओर से...... - कोविंद के नॉमिनेशन के लिए बीजेपी ने चार सेट तैयार किए। पहले सेट का प्रपोजल नरेंद्र मोदी और राजनाथ सिंह की ओर से रखा गया। दूसरा सेट के लिए प्रपोजल अमित शाह और अरुण जेटली ने रखा। - तीसरे सेट का प्रापोजल शिरोमणि अकाली दल के लीडर प्रकाश सिंह बादल और वेंकैया नायडू की ओर से रखा गया। वहीं, चौथे सेट के लिए आंध्र प्रदेश के सीएम एम चंद्रबाबू नायडू और सुषमा स्वराज प्रस्तावक थे।
कोविंद ने कहा- राष्ट्रपति पद दलगत राजनीति से ऊपर है. - रामनाथ कोविंद ने नॉमिनेशन भरने के बाद कहा- "मेरे मीडिया के सभी मित्रों। 125 करोड़ वाला देश दुनिया का सबसे बड़ा लोकत्रंत है। राष्ट्रपति पद बेहद गरिमा वाला पद है। इस पर राजेंद्र प्रसाद, अब्दुल कलाम जैसी हस्तियां रही हैं। इसकी गरिमा बनाए रखना हमारी जिम्मेदारी है। मैं जब से बिहार गवर्नर बना तब से मेरा कोई राजनीतिक दल नहीं है। राष्ट्रपति पद दलगत राजनीति से ऊपर है। मैं पीएम, एनडीए के सभी दलों और वे दल जो एनडीए में नहीं हैं और उन्होंने भी मुझे सपोर्ट किया है मैं सबको धन्यवाद देता हूं।" - "कुछ ही सालों बाद देश आजादी के 75 साल सेलिब्रेट करने वाला है। ऐसे में वह भारत निर्माण के सपने के पूरा करने के लिए हमेशा प्रयासरत रहेंगे।आज मैंने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए नॉमिनेशन भरा। मैं सबको विश्वास दिलाता हूं कि इसकी गरिमा बनाए रखने की कोशिश करूंगा।"
रामनाथ कोविंद v/s मीरा कुमार. रामनाथ कोविंद: सादगीभरी छवि, कानून के जानकार, संविधान की समझ (बिहार के गवर्नर रहे), कैंडिडेट के तौर पर दलित चेहरा। दो चुनाव लड़े, लेकिन हार गए। मीरा कुमार: साफ-सुथरी छवि, कानून की जानकार, संविधान की जानकारी (लोकसभा स्पीकर रहीं)। विदेश नीति की जानकारी (इंडियन फॉरेन सर्विस में रहीं)। दलित चेहरा और पूर्व डिप्टी पीएम जगजीवन राम की बेटी। रामविलास पासवान और मायावती जैसे बड़े दलित लीडर्स को चुनाव में हराया। करोलबाग से 3 बार MP भी रहीं।


अहमदाबाद में रामदेव-अमित शाह ने किया योग, बन सकता है वर्ल्ड रिकॉर्ड
21 Jun 2016
नई दिल्ली/अहमदाबाद.तीसरे इंटरनेशनल योग डे पर बुधवार को केंद्रीय मंत्री वैंकेया नायडू, सीएम अरविंद केजरीवाल और एनडीए के राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद ने दिल्ली में योग किया। वहीं, अहमदाबाद में बाबा रामदेव और अमित शाह ने एक प्रोग्राम में हिस्सा लिया। इसमें करीब सवा लाख लोग शामिल हुए। दिल्ली में लोधी गार्डन, नेहरू पार्क, तालकटोरा गार्डन और इंडिया गेट जैसी कई जगहों पर योग के प्रोग्राम हुए।
दस हजार लोगों ने किया योग... - एनडीएमसी के चेयरमैन नरेश कुमार ने बताया कि करीब 10 हजार लोगों ने एक साथ योगासन किए। प्रोग्राम सुबह 6 बजे से शुरू हुआ। - कनॉट प्लेस के मेन इवेंट में वेंकैया नायडू, खेल मंत्री विजय गोयल, दिल्ली के एलजी अनिल बैजल और बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी मौजूद रहे। - प्रोग्राम के चलते सुबह 11.30 बजे तक कनॉट प्लेस के इनर सर्किल में ट्रैफिक बंद रहा। पैदल आने-जाने पर कोई पाबंदी नहीं थी, दुकानें भी खुली रहीं।
रामदेव अहमदाबाद में बनाएंगे रिकॉर्ड. - बाबा रामदेव ने अहमदाबाद में योग प्रोग्राम किया। इसमें 5 लाख से ज्यादा लोगों के शामिल होने का अनुमान है। बाबा का दावा है कि ये वर्ल्ड रिकॉर्ड होगा। इस मौके पर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के रिप्रेंजेटेटिव्स भी मौजूद रहे। - उधर, राजकोट में भी बच्चे और महिलाएं एक्वा योग का रिकॉर्ड बना सकती हैं। इसमें 1000 महिलाएं और बच्चे शामिल हुए। इस दौरान 45 से 50 मिनट तक पानी में योगासन किए गए।
राजपथ पर मना था पहला योग दिवस. - बता दें कि दिसंबर, 2014 में यूएन जनरल असेंबली ने 21 जून को योग दिवस के तौर पर मनाए जाने का एलान किया था। - इसके बाद पहला योग दिवस 2015 में राजपथ पर मनाया गया, जिसमें 191 देशों के लोग शामिल हुए थे।


मनी लॉन्ड्रिंग की जांच के लिए मंत्री सत्येंद्र जैन के घर पहुंची CBI, पत्नी से पूछताछ
19 Jun 2016
नई दिल्ली.सीबीआई की टीम सोमवार को अरविंद केजरीवाल के करीबी मंत्री सत्येंद्र जैन के घर पहुंची। जांच एजेंसी ने जैन के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है। सूत्रों ने बताया कि मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों की जांच के सिलसिले में मिनिस्टर की पत्नी से पूछताछ हुई। जैन के खिलाफ अप्रैल में प्रिलिमनरी इन्क्वायरी (प्राथमिक जांच) दर्ज की गई थी। उन पर 4.63 लाख के मनी लॉन्ड्रिंग में शामिल होने का आरोप है। जैन केजरीवाल सरकार में हेल्थ मिनिस्टर हैं और बर्खास्त मंत्री कपिल मिश्रा के निशाने पर हैं। आप ने इस कार्रवाई को केंद्र सरकार की साजिश बताया है।
3 दिन पहले सिसोदिया के घर भी गई थी CBI...... - न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सीबीआई ने जैन की पत्नी को पूछताछ के लिए बुलाया था। इस पर मंत्री की पत्नी ने अफसरों को अपने घर पर ही जानकारी देने को कहा। -सीबीआई की कार्रवाई पर आप ने कहा- ''एक और दिन, एक और छापा। सीबीआई ने सत्येंद्र जैन के घर छापा मारा। विरोधियों को चुप करना चाहती है सरकार।'' - बता दें कि जैन पर 11.78 करोड़ के हवाले का भी आरोप है। इसमें कहा गया था कि 2010-12 के बीच उन्होंने कुछ फर्जी कंपनियों के जरिए मनी लॉन्ड्रिंग की। इनकम टैक्स ने नए बेनामी प्रॉपर्टी एक्ट के तहत इस केस को भी सीबीआई के पास भेजा है। - 16 जून को सीबीआई डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के घर गई थी। केजरी सरकार के 'टॉक टू AK' कैम्पेन में गड़बड़ी के आरोपों को लेकर सिसोदिया से पूछताछ कर जानकारी ली। विजिलेंस डिपार्टमेंट की शिकायत पर सीबीआई ने इस मामले में प्रिलिमनरी इन्क्वायरी दर्ज की थी। इसमें सिसोदिया के रोल की भी जांच हो रही है।
कपिल मिश्रा ने ली चुटकी. - दिल्ली के जल मंत्री पद से हटाए गए कपिल मिश्रा ने सीबीआई की कार्रवाई को लेकर सत्येंद्र जैन और केजरीवाल पर चुटकी ली। - उन्होंने ट्वीट किया- ''झूठ के पांव नहीं होते अरविंद केजरीवाल। अब तुम्हारा खेल खत्म। चोरी के इस खेल में जो भी शामिल हैं, आज वो सब @SatyendarJain के पक्ष में बयान देंगे। देखते जाओ कौन-कौन tweet करता है।'' - मिश्रा ने पहले कहा था- ''Talk to AK: पंजाब और गोवा के फेसबुक विज्ञापनों पर दिल्ली सरकार का पैसा लगाया गया। सिसोदिया ने लिखकर दिया था कि इन्हीं राज्यों में विज्ञापन किया जाए। अब सीबीआई का छापा पड़ा तो अरविंद केजरीवाल ड्रामा करके कहेंगे कि मोदी ने फंसाया, छापा नहीं पड़ा तो कहेंगे देखो, हम ईमानदार हैं।''
बड़े घोटालों से ध्यान हटाने की साजिश: सिसोदिया. - मनीष सिसोदिया ने कहा- ''माल्या, पनामा, व्यापम, डीडीसीए, आईपीएल, अरबों के इन घोटालों से ध्यान हटाने का एक ही तरीका है- रोज़ाना एक आप नेता के यहां CBI भेज दो।'' - संजय सिंह ने कहा- ''माल्या 9 हज़ार करोड़, शिवराज व्यापम, वसुंधरा आईपीएल, रमन सिंह पनामा पेपर, 31% मोदी के मंत्री आरोपी, लेकिन CBI ख़ामोश, AAP को बदनाम करने में जुटी है सीबीआई।''


दिल्ली के डिप्टी CM सिसोदिया के घर पहुंची CBI, जांच को लेकर की पूछताछ
16 Jun 2016
नई दिल्ली.सीबीआई की टीम शुक्रवार को दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के घर पहुंची। केजरीवाल सरकार के 'टॉक टू AK' कैम्पेन में गड़बड़ी के आरोपों को लेकर जांच एजेंसी ने सिसोदिया से पूछताछ कर जानकारी मांगी है। जनवरी में विजिलेंस डिपार्टमेंट की शिकायत पर सीबीआई ने प्रिलिमनरी इन्क्वायरी दर्ज की थी। इसमें सिसोदिया के रोल की भी जांच हो रही है। सीबीआई ने कहा है कि सिसोदिया से सिर्फ डिटेल मांगी गई, ये कोई सर्च या रेड नहीं है।
कैम्पेन के लिए PR कंपनी को डेढ़ करोड़ दिए..... - विजिलेंस डिपार्टमेंट ने शिकायत में कहा था कि दिल्ली सरकार ने 'टॉक टू AK' को बढ़ावा देने के लिए एक मशहूर पीआर कंपनी के कंसल्टेंट को जिम्मा सौंपा था। इसके लिए डेढ़ करोड़ रुपए का प्रपोजल तैयार किया गया। - दिल्ली के प्रिंसिपल सेक्रेटरी के एतराज के बावजूद तब सरकार ने प्रपोजल को आगे बढ़ाया और कंसल्टेंट ने रकम को खर्च किया। सीबीआई ने इन्हीं आरोपों और इनमें सिसोदिया और अन्य की कथित भूमिका का पता लगाने के लिए जांच शुरू की। - इसके अलावा हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन की बेटी सौम्या को मोहल्ला क्लिनिक प्रोजेक्ट में सरकार की एडवाइजर बनाए जाने को लेकर भी सीबीआई ने 18 जनवरी को सिसोदिया के खिलाफ जांच शुरू की थी। परिवारवाद के आरोपों को लेकर दिल्ली के उप राज्यपाल ने केजरी सरकार को लेटर लिखा था।
कपिल मिश्रा ने ली चुटकी. - दिल्ली के जल मंत्री पद से हटाए गए कपिल मिश्रा ने ट्वीट कर सिसोदिया से सीबीआई की पूछताछ पर चुटकी ली। - उन्होंने ट्वीट किया- ''Talk to AK: पंजाब और गोवा के फेसबुक विज्ञापनों पर दिल्ली सरकार का पैसा लगाया गया। सिसोदिया ने लिखकर दिया था कि इन्हीं राज्यों में विज्ञापन किया जाए। अब सीबीआई का छापा पड़ा तो अरविंद केजरीवाल ड्रामा करके कहेंगे कि मोदी ने फंसाया, छापा नहीं पड़ा तो कहेंगे देखो, हम ईमानदार हैं।''
केजरी-सिसोदिया ने किए थे ट्वीट.. - इन्क्वायरी दर्ज होने के बाद केजरीवाल ने कहा, ''वाह रे मोदीजी। रिश्वत खाओ खुद और केस करो हम पे। चोरी और सीनाजोरी। मोदीजी, इसीलिए मैं आपको कायर बोलता हूं। गोवा और पंजाब में हार रहे हो तो सीबीआई का गेम शुरू कर दिया?'' - ''ऐसा लगता है मोदीजी पूरी तरह पगला गए हैं। देश के पीएम को बस एक यही काम रह गया है। हाथ धोकर पीछे पड़ गए हैं। मनीष CBI का इंतज़ार करते रहे, लेकिन CBI नहीं आई। अभी तक लोग CBI से डरते थे। पहली बार CBI किसी से डर रही है।'' - एक ट्वीट में सिसोदिया ने कहा था- ''स्वागत है मोदीजी! आइए मैदान में। कल सुबह आपकी सीबीआई का अपने घर और दफ्तर में इंतज़ार करूंगा। देखते हैं कितना ज़ोर है आपके बाजुए कातिल में।''


ट्रम्प-मोदी के बीच 3 मुद्दों पर होगी बातचीत, 26 जून को US में होगी पहली मुलाकात
13 Jun 2016
नई दिल्ली.नरेंद्र मोदी 25 जून को अमेरिका पहुंचेंगे। अगले ही दिन यानी 26 को उनकी प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प से मुलाकात होगी। दोनों के बीच यह पहली मुलाकात होगी। अभी तक दोनों नेता तीन बार फोन पर बातचीत कर चुके हैं। विदेश मंत्रालय ने कहा, "मोदी और ट्रम्प की मुलाकात दोनों देशों के बीच संबंधों को और ज्यादा गहरा करेगी। साथ ही स्ट्रैटजिक रिलेशनशिप को भी नई दिशा देगी।" इस दौरान H1-B वीजा पर भी दोनों के बीच चर्चा हो सकती है। बता दें कि मोदी का तीन साल में यह चौथा अमेरिकी दौरा होगा
इन तीन मुद्दों पर होगी चर्चा... - व्हाइट हाउस के प्रेस सेक्रेटरी शॉन स्पाइसर के मुताबिक, "मोदी के साथ मीटिंग में ट्रम्प आने वाले मुद्दों के बारे में चर्चा करेंगे। उन मसलों पर भी बातचीत होगी, जिनसे दोनों देशों के बाइलेटरल रिलेशन मजबूत होंगे और जो भारत-यूएस के साझा मुद्दे हैं।
इन तीन मसलों पर होगी बातचीत... 1. टेररिज्म के खिलाफ जंग। 2. इकोनॉमिक ग्रोथ और रिफॉर्म्स को बढ़ावा देना। 3. इंडो-पैसिफिक रीजन में डिफेंस पार्टनरशिप को मजबूत करना।
क्यों अहम है ये मुलाकात?... - अमेरिका हाल ही में पेरिस क्लाइमेट डील से हट गया। ट्रम्प ने कहा था कि डील से 2025 तक अमेरिका में 27 लाख नौकरियां चली जाएंगी। नौकरियां बचाने के लिए हमें इस समझौते से हटना होगा। ये भी आरोप लगाया कि पेरिस डील में भारत और चीन जैसे पॉल्यूटेड देशों के लिए कोई खास सख्ती नहीं की गई है। - एच-1बी को लेकर भी ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन ने सख्ती की है। भारत ने इस पर चिंता जताई थी। - ट्रम्प-मोदी की मीटिंग में डिफेंस को-ऑपरेशन, आतंकवाद के अलावा साउथ एशिया, न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप्स (एनएसजी‌‌) में भारत की मेंबरशिप जैसे कई दूसरे मुद्दों पर भी चर्चा हो सकती है। फॉसिल फ्यूल पर भी दोनों देश बातचीत कर सकते हैं। - बता दें कि ट्रम्प एक्सपोर्ट बढ़ाना चाहते हैं। उनका मानना है कि विदेशी कंपनियां अमेरिका में इन्वेस्टमेंट करें और नौकरी में भी अमेरिकियों को तरजीह दें।


उबर ने रेप पीड़िता के मेडिकल रिकॉर्ड हासिल करने वाले अधिकारी को निकाला
8 Jun 2016
टैक्सी सर्विस प्रोवाइडर कंपनी उबर ने अपने उस सीनियर अधिकारी को हटा दिया है जिसने 2014 में रेप की शिकार हुई 26 साल की एक भारतीय लड़की के मेडिकल रिकॉर्ड को कथित तौर पर हासिल कर लिया था। टेक्नोलॉजी न्यूज वेबसाइट रेकोड की एक रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी के एशिया प्रशांत के प्रेसिडेंट एरिक एलेक्जेंडर को मंगलवार को नौकरी से निकाल दिया गया है। बता दें कि उबर ने पिछले कुछ महीनों में अपने 20 कर्मचारियों को उत्पीड़न, भेदभाव और गलत व्यवहार के आरोपों पर निकाला है। उबेर ने अधिकारी को निकाला...
-रिपोर्ट के मुताबिक एलेक्जेंडर ने उस महिला के मेडिकल रिकॉर्ड हासिल कर लिए थे जिसके साथ उबर ड्राइवर शिव कुमार यादव ने दिल्ली में दिसंबर 2014 में रेप किया था। -इस घटना के बाद भारत सरकार ने सख्त रवैया अपनाया था। सरकार ने जून 2015 तक उबर को दिल्ली में ऑपरेट करने से बैन कर दिया था। -2015 में दिल्ली की एक अदालत ने शिवकुमार यादव को दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक एलेक्जेंडर ने कई लोगों को दिखाई मेडिकल रिपोर्ट -रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया कि एलेक्जेंडर ने ये मेडिकल रिपोर्ट उबर के CEO ट्राविस क्लानिक और सीनियर वाइस-प्रेसिडेंट एमिल माइकल को दिखाई थी। इसके बाद कंपनी के अनेक अधिकारियों को या तो ये रिकॉर्ड दिखाए गए या उसके बारे में बताया गया था। -न्यूज वेबसाइट ने एलेक्जेंडर की इस हरकत के बारे में पूछने के लिए कंपनी से कॉन्टैक्ट किया तो उसे बताया गया कि एलेक्जेंडर अब उनकी कंपनी में नहीं है।


केरला हाउस में घुसकर गौरक्षकों ने बांटा गाय का दूध, रेजिडेंट कमिश्नर ने मांगी एडिशनल प्रोटेक्शन
2 Jun 2016
नई दिल्ली। केरला हाउस के रेजिडेंट कमिश्नर ने कहा है कि उन्होंने केरला हाउस के लिए एडिशनल प्रोटेक्शन मांगी है। बता दे कि गुरूवार रात केरल में हाल में आयोजित बीफ फेस्टिवल का विरोध करने के लिए एक गौरक्षक ग्रुप के कुछ मेंबर्स कथित तौर पर जबरन घुस गए थे। रेजिडेंट कमिश्नर विश्वास मेहता ने कहा कि वे लोग बिना किसी इनफॉर्मेशन के अचानक आ गए। यह एक पॉलिटिकल चीज है, केरला हाउस जैसे इंस्टिट्यूशन को इससे दूर रखा जाना चाहिए।

न्यूज एजेंसी के मुताबिक पुलिस ने बताया कि खुद को भारतीय गौरक्षक क्रांति का मेंबर बताने वाले 12-14 लोग केरल हाउस में घुस गए और उन्होंने गाय का दूध बांटना शुरू कर दिया। -वे कथित तौर पर कह रहे थे कि उन्हें परमिश्न की जरूरत नहीं है क्योंकि वे धर्म के मुताबिक काम कर रहे हैं। केरल में आयोजित किए गए हैं बीफ फेस्ट -पशु बाजारों में वध के लिए मवेशियों के खरीद-फरोख्त पर रोक के केंद्र सरकार के फैसले के खिलाफ केरल के कई हिस्सों में बीफ फेस्ट आयोजित किए गए हैं। -राज्य में कांग्रेस के कुछ वर्कर्स ने एक बछड़े को पब्लिक तौर पर काट दिया था। केरल में मुख्य तौर पर बीफ खाने वालों की संख्या काफी ज्यादा है।


मोदी के निर्देश के बाद शाह को खातों की डिटेल देंगे बीजेपी विधायक और सांसद, केजरीवाल ने कसा तंज
3 December 2016
नोटबंदी के खिलाफ लगातार आवाज बुलंद कर रहे सीएम अरविंद केजरीवाल ने आज एक बार फिर ट्विटर के जरिए हमला बोला। उन्होंने पीएम के उस निर्देश पर तंज कसा जिसमें प्रधानमंत्री ने बीजेपी के सभी सांसद-विधायकों को 8 नवंबर से 31 दिसंबर तक उनके खातों से होने वाले लेन-देन की डिटेल पार्टी प्रेसिडेंट अमित शाह को सौंपने को कहा है। यह डिटेल 1 जनवरी तक देने को कहा गया है। केजरीवाल ने ट्वीट करके कहा, 'तो अब भाजपा के MP/MLA अमित शाह को अपने बैंक डिटेल देंगे और अमित शाह काला धन की चेकिंग करेंगे?' PMने किया आयकर संशोधन विधेयक का सपोर्ट... -मोदी ने ये निर्देश भाजपा संसदीय दल की बैठक में दिया। विपक्षी दल यह आरोप लगाते रहे हैं कि नोटबंदी की फैसले के एलान से पहले बीजेपी के कुछ नेताओं और करीबियों को चुनिंदा तरीके से लीक किया गया। -पीएम ने भाजपा संसदीय दल की बैठक में कहा कि आयकर संशोधन विधेयक ब्लैक मनी को सफेद करने के लिए नहीं बल्कि गरीबों से लूटे गए पैसे का इस्तेमाल उनके कल्याण के लिए करने के लिए हैं।


सोनिया गांधी हॉस्पिटल में एडमिट, कांग्रेस प्रेसिडेंट को वायरल इन्फेक्शन की शिकायत
2 December 2016
कांग्रेस प्रेसिडेंट सोनिया गांधी को मंगलवार दोपहर दिल्ली के गंगाराम हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है। जानकारी के मुताबिक, सोनिया को वायरल इन्फेक्शन है। कांग्रेस की तरफ से अभी इस बारे में कोई बयान जारी नहीं किया गया है। अगस्त में रोड शो के दौरान पड़ गई थीं बीमार... - यूपी में 27 साल बाद कांग्रेस सत्ता में वापसी की कोशिश कर रही है। 3 अगस्त को वाराणसी में सोनिया ने 6.4Km का रोड शो रखा। इसे बीच में ही रोकना पड़ा था। तबीयत खराब होने पर पहले उन्हें होटल और बाद में हॉस्पिटल ले जाया गया था। - सोनिया लोकसभा चुनाव के दो साल बाद नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में पहुंचीं थीं। - कांग्रेस विधायक अजय राय ने बताया था कि सोनिया को हाई फीवर, डिहाइड्रेशन और लो-ब्लड प्रेशर की शिकायत हुई थी। डॉक्टर्स ने उन्हें फौरन दिल्ली लौटने की सलाह दी थी।


नोटबंदी : करीब 160 टन नोट देश के अलग-अलग हिस्सों में पहुंचा चुकी है इंडियन एयरफोर्स
1 December 2016
डियन एयरफोर्स 160 टन से ज्यादा नए करेंसी नोट चार प्रिंटिंग प्रेसों से उठाकर देश के अलग-अलग हिस्सों में पहुंचा चुकी है। नोटबंदी के फैसले के बाद मांग में बढ़ोतरी को पूरा करने के लिए यह कदम उठाया गया है ताकि सोर्स से मेन डिस्ट्रिब्यूशन सेंटर्स तक नोटों को पहुंचाने में लगने वाले टाइम में कमी लाई जा सके। 19 नवंबर से ली जा रही हैं एयरफोर्स की सेवाएं... -सूत्रों ने कहा कि 19 नवंबर से वायुसेना की सेवाएं ली जा रही हैं और उसने अपने AAN 32, C 130 J और C 17 ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट्स और हेलीकाप्टरों को इस काम में लगाया है। -एक सूत्र ने कहा, नॉर्थ ईस्ट के कुछ दूरदराज इलाकों में नकदी पहुंचाने के लिए पहले ही हेलीकाप्टरों का इस्तेमाल किया जा रहा है, लेकिन ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट्स का इस्तेमाल नई बात है।


पत्नी के बाद सिद्धू भी कांग्रेस में जा सकते हैं, नवजोत बोलीं-हम दो शरीर, एक आत्मा
30 November 2016
बीजेपी से इस्तीफा दे चुके पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्दू की पत्नी नवजोत कौर सोमवार को कांग्रेस में शामिल हो गईं। कांग्रेस हेडक्वार्टर में उनके साथ भारत के पूर्व हॉकी कप्तान परगट सिंह ने भी कांग्रेस ज्वॉइन की। कौर से पूछा गया कि सिद्धू कब कांग्रेस ज्वाइन करेंगे, तो उन्होंने कहा, '‘हम दो शरीर एक आत्मा हैं, फिर एक-दूसरे के बिना कब तक रह पाएंगे।’' कौर के बयान को पंजाब इलेक्शन से पहले सिद्धू के पार्टी ज्वाइन करने का संकेत माना जा रहा है। कहां से इलेक्शन लड़ सकती हैं कौर... - सूत्रों के मुताबिक, परगट को शाहकोट या नकोदर से टिकट मिल सकता है। कौर अमृतसर से इलेक्शन लड़ सकती हैं। - कहा जा रहा है कि सिद्धू की कांग्रेस में डील फाइनल हो गई है। हालांकि वे चुनाव नहीं लड़ेंगे। उन्हें अमृतसर से लोकसभा इलेक्शन में उतारा जा सकता है। ये सीट कैप्टन अमरिंदर के इस्तीफा देने से खाली हुई है।


AAP सरकार ने SC से कहा: शुंगलू रिपोर्ट पर जल्दबाजी में कोई एक्शन नहीं लिया जाए
28 November 2016
आप सरकार ने आज सुप्रीम कोर्ट से कहा कि SC में पेंडिंग दिल्ली-केंद्र के बीच विवाद पर कोई फैसला आने तक शुंगलू कमेटी की रिपोर्ट पर कोई जल्दबाजी में कार्रवाई नहीं की जानी चाहिए। जस्टिस के सिकरी और ए एम सप्रे की बेंच ने कहा कि शुंगलू कमेटी के पहलू पर 5 दिसंबर को विचार किया जाएगा। इसी दिन मामले पर डिटेल सुनवाई होनी है। कोर्ट में केंद्र और दिल्ली सरकार ने रखा अपना पक्ष... -दिल्ली सरकार की तरफ से सीनियर एडवोकेट गोपाल सुब्रमण्यम ने कहा कि शुंगलू कमेटी ने अपनी रिपोर्ट एलजी को सौंपी है और इस रिपोर्ट को लेकर कई आशंकाएं हैं। -उन्होंने कहा, शुंगलू कमेटी की रिपोर्ट पर रोक लगाई जाए ताकि इस पर जल्दबाजी में कोई कार्रवाई नहीं की जा सके। -केंद्र की तरफ से सॉलिसिटर जनरल रंजीत कुमार ने कहा कि रिपोर्ट कल ही जमा की गई है और इसमें क्या है यह किसी को नहीं पता है।



पंजाब जेल ब्रेकः फरार खालिस्तानी नेता हरमिंदर सिंह मिंटू 20 घंटे बाद अरेस्ट
28 November 2016
नाभा जेल ब्रेक मामले में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट के चीफ हरमिंदर सिंह मिंटू को दिल्ली के निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से अरेस्ट कर लिया गया है। इन्हें भगाने वाले परमिंदर सिंह को उत्तर प्रदेश में शामली से पहले ही अरेस्ट किया जा चुका है। बता दें कि पटियाला की नाभा जेल में रविवार सुबह कुख्यात बदमाश विक्की गोंडर के 10 साथी पुलिस की वर्दी में आए थे। वे फायरिंग करते हुए जेल में घुसे और 6 कैदियों को लेकर भाग गए। एक और खालिस्तान समर्थक कश्मीरा सिंह को पकड़ा जाना बाकी है। उधर, शहर में नाकेबंदी के दौरान पुलिस की फायरिंग में एक महिला की मौत भी हो गई है। परमिंदर के पास मिले हथियार... - उत्तर प्रदेश के शामली से गिरफ्तार किया गया परमिंदर जेल ब्रेक का मास्टरमाइंड बताया जा रहा है। - जिस वक्त उसे गिरफ्तार किया गया वह कार में था। उसकी कार से एक एसएलआर समेत तीन राइफल और कई राउंड कारतूस बरामद किए गए हैं।


नोटबंदी पर फिर हुआ संसद में हंगामा: सरकार बोली- ये कालेधन की नाकेबंदी का विरोध
28 November 2016
नोटबंदी पर संसद सोमवार को नहीं चल सकी। दोनों सदनों की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने हंगामा किया। लंच के बाद दोनों सदनों को कल तक के लिए स्थगित कर दिया गया। बता दें कि शुक्रवार को भी दोनों सदनों को स्थगित किया गया था। लोकसभा में विपक्ष ने पीएम की मौजूदगी में वोटिंग के नियम के तहत चर्चा की मांग की। राज्यसभा में भी पीएम को बुलाने की मांग हुई। सरकार कह चुकी है कि मोदी सदन में बयान देंगे। लेकिन विपक्ष पीएम की मौजूदगी में ही चर्चा पर अड़ा है।


20 दिन में 10 साल पीछे पहुंच गया देश, लोग हो रहे परेशान: केजरीवाल
28 November 2016
.नोटबंदी को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक बार फिर प्रधानमंत्री मोदी पर जमकर निशाना साधा। केजरीवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री की जिद और अहंकार की वजह से देश को भारी आर्थिक नुकसान हो रहा है। देश की जनता को अनावश्यक रूप से परेशानी झेलनी पड़ रही है। नोटबंदी के फैसले के चलते देश 20 दिन में 10 साल पीछे चला गया है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के पीछे प्रधानमंत्री ने चार वजहें गिनाई थीं। भ्रष्टाचार, कालाधन, नकली नोट और आतंकवाद की फंडिंग। लेकिन यह फैसला इन चारों ही मामलों में विफल रहा है। केजरीवाल ने आरोप लगाया कि नोटबंदी के बाद देश में भ्रष्टाचार में अक्टूबर की तुलना में नवंबर में 10 गुना की बढ़ोत्तरी हो गई है, देशभर में जमकर रिश्वतखोरी हो रही है। सरकार के मुताबिक बीते 20 दिनों में 8 लाख करोड़ रुपए बैंकों में जमा किए गए हैं। सरकार बताए कि इसमें कितना कालाधन आया। केजरीवाल ने आरोप लगाया कि काले धन में भी 10 फीसदी तक बढ़ोत्तरी हुई है और नकली नोटों का कारोबार धड़ल्ले से जारी है। दिल्ली के मुख्यमंत्री की मानें तो एक नंबर में एक तोला सोना 30 हजार रुपए का मिल रहा है तो दो नंबर में 56 हजार प्रति तोला तक के दाम हैं। यहां तक कि दो-दो हजार रुपए के नोटों की कालाबाजारी हो रही है।



SC से केजरीवाल को झटका, लोअर कोर्ट में चलता रहेगा जेटली द्वारा दायर क्रिमिनल मानहानि केस
26 November 2016
सुप्रीम कोर्ट से अरविंद केजरीवाल को बड़ा झटका लगा है। कोर्ट ने साफ कर दिया है कि फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली द्वारा उनके खिलाफ दायर क्रिमिनल मानहानि का केस चलता रहेगा। केजरीवाल ने क्रिमिनल मानहानि मामले में लोअर कोर्ट की प्रोसिडिंग्स पर रोक लगाने की अपील की थी जिसे सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है। बता दें कि जेटली ने अरविंद केजरीवाल और अन्य पांच आप नेताओं के खिलाफ लोअर कोर्ट में क्रिमिनल और दिल्ली हाईकोर्ट में सिविल मानहानि केस दायर किया है। HC से भी केजरीवाल को नहीं मिली था राहत... -इससे पहले 19 अक्टूबर को अरुण जेटली द्वारा दाखिल क्रिमिनल मानहानि के मामले में लोअर कोर्ट की प्रोसीडिंग्स पर रोक लगाने की केजरीवाल की याचिका को HC ने भी खारिज कर दिया था। -HC में याचिका दायर कर केजरीवाल ने लोअर कोर्ट के 19 मई के ऑर्डर को चुनौती दी थी। लोअर कोर्ट ने इस ऑर्डर में क्रिमिनल मानहानि केस पर एक संबंधित सिविल सूट (civil suit) पर HC का फैसला आने तक सुनवाई स्थगित करने की केजरीवाल की मांग को ठुकरा दिया था।



नोटबंदी: मोदी सरकार के एलान के बाद ऐसे हुई थी काली कमाई खपाने की कोशिशें
24 November 2016
नोटबंदी का एलान होते ही लोगों ने 500-1000 के पुराने नोट खपाने के लिए कई तरीके अपनाए। कई कंपनियों ने स्टॉफ और मजदूरों को हायर कर बैंक-पोस्ट ऑफिस की लाइन में लगाया तो कुछ लग्जरी ब्रांड्स के शोरूम रातभर खुले रहे। दावा है कि उसी रात दिल्ली में महज तीन घंटे के अंदर 1 करोड़ से ज्यादा की मंहगी घड़ियां बिकीं। अघोषित कमाई से दोगुना रेट में सोना और बड़े ब्रांड्स के महंगे सामान खरीदे गए। ऐसे हुई काली कमाई खपाने की कोशिशें... 1.कंपनियों ने मजदूरों को लाइन में लगाया - मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो कई फैक्ट्री मालिक और कारोबारियों ने अपने स्टॉफ को नोट बदलवाने के लिए बैंकों-पोस्ट ऑफिस की लाइन में लगा दिया। यही नहीं कइयों ने तो इसके लिए मजदूरों को हायर भी किया। - बता दें कि सरकार की ओर से नोट बदलवाने की तारीख 30 दिसंबर तय की गई है। एक आदमी के लिए पहले यह लिमिट 4000 हजार थी, लेकिन बाद में सरकार ने कहा कि काली कमाई रखने वाले गरीबों को पैसे देकर बैंकों की लाइन में लगा रहे हैं तो इसकी लिमिट घटाकर 2000 कर दी गई।



ATM के बाहर लोगों से मिले राहुल, नोटबंदी सही या गलत- उनके सामने ही भिड़े लोग
23 November 2016
सोमवार सुबह राहुल गांधी एक बार फिर एटीएम पहुंचे। नोटबंदी के बाद पैसा निकालने के लिए कतार में खड़े लोगों से मुलाकात की। समस्या जाननी चाही। दिल्ली के जहांगीरपुरी में राहुल के सामने ही कुछ लोग इस बात पर भिड़ गए कि नोटबंदी का फैसला सही है या गलत। कांग्रेस वाइस प्रेसिडेंट को बीच-बचाव करना पड़ा। उन्होंने कहा, ''अच्छा भैया लड़ो मत।'' बता दें कि राहुल खुद लाइन में लग कर एसबीआई से पैसा निकाल चुके हैं। मुंबई में भी वे एटीएम के बाहर लोगों से मिलते देखे गए थे। राहुल के सामने लोगों की बीच हुई कहासुनी... - जैसे ही राहुल जहांगीरपुरी के एक एटीएम के पास पहुंचे लोगों की भीड़ लग गई। - राहुल लोगों से बात कर रहे थे। इसी दौरान एक शख्स ने कहा, ''हमें थोड़ा सहयोग करना चाहिए।'' - इस पर एक दूसरे शख्स ने कहा, ''आम जनता को परेशान कर रखा है।'' - पहला शख्स, ''परेशानी से ही फ्यूचर बनता है।''



नोटबंदी: 4 महीने पहले ही Paytm का टारगेट पूरा, केजरी बोले- नोट नहीं, PM बदलो
22 November 2016
अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को मोबाइल पेमेंट कंपनी पेटीएम की कमाई को मुद्दा बनाया। दिल्ली के सीएम ने ट्वीट कर पूछा, ''नोटबंदी के बाद से पेटीएम की कमाई में जबरदस्त उछाल आया। मोदीजी ने पेटीएम के लिए एड किया, पीएम और पेटीएम में क्या रिश्ता है? अब नोट नहीं, पीएम बदलो।'' बता दें कि 8 नवंबर को 500-1000 के नोट बंद करने के बाद से 4.5 करोड़ यूजर्स ने पेटीएम की सर्विस ली, जिसमें 50 लाख नए यूजर हैं। 14 तारीख तक पेटीएम के जरिए 2.5 करोड़ ऑफलाइन ट्रांजेक्शन हुआ, जिससे 150 करोड़ रु. का लेन-देन हुआ। 4 महीने पहले ही कंपनी का टारगेट पूरा हो गया है। केजरी के ट्वीट की क्या वजह... - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पिछले दिनों कैश की दिक्कत के चलते लोगों ने कैशलेस ट्रांजेक्शन की तरफ रुख किया। जिसकी वजह से डिजिटल मोबाइल पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर कंपनी पेटीएम के यूजर्स अचानक बढ़े। - सोमवार को पेटीएम ने कहा, ''बीते शनिवार को कंपनी के प्लेटफॉर्म के जरिए 70 लाख कैशलेस ट्रांजेक्शन में 120 करोड़ का लेन-देन हुआ। 8 से 14 नवंबर के बीच 50 लाख नए यूजर जुड़े और पेटीएम के जरिए 2.5 करोड़ ऑफलाइन ट्रांजेक्शन हुआ, जिससे 150 करोड़ रुपए पेमेंट किए गए। कंपनी के पास फिलहाल 15 करोड़ से ज्यादा यूजर्स हैं।'' 4 महीने पहले ही पेटीएम का टारगेट पूरा - कंपनी के वाइस प्रेसिडेंट, सुधांशु गुप्ता ने बताया, ''मेट्रो सिटीज में अब लोग एक कप कॉफी के पेमेंट के लिए भी पेटीएम का इस्तेमाल कर रहे हैं। कुछ जगहों पर किसान भी पेटीएम से खाद-बीज खरीद रहे हैं।'' - ''पेटीएम के कुल कारोबार में ऑफलाइन लेन-देन की हिस्सेदारी 65% के ऊपर पहुंच गई है, जबकि 6 महीने पहले यह 15% के करीब था। उनके प्लेटफॉर्म से बिकने वाले प्रोडक्ट्स का कुल मूल्य (GMV) 5 अरब डॉलर को पार कर गया है। इस तरह कंपनी ने 4 महीने पहले ही इस साल का टारगेट पूरा कर लिया, जो 2015 में 3 अरब डॉलर था।'' - बता दें कि GMV ऑनलाइन क्षेत्र में काम करने वाली कंपनियों के कारोबार को मापने का पैमाना है। इसका मतलब किसी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से बेची जाने वाले सामन के सकल मूल्य से है। पेटीएम में चीन के अलीबाबा ग्रुप की बड़ी हिस्सेदारी है। कंपनी मोबाइल वॉलेट पर लेन-देन के साथ ही अपने प्लेटफॉर्म पर ई-कॉमर्स की सर्विस भी देती है। ़ें


HC नोटबंदी के खिलाफ पिटिशन पर 8 दिसंबर को करेगा सुनवाई, 2000 का नया नोट बंद करने की मांग
22 November 2016
दिल्ली HC नोटबंदी के खिलाफ दायर एक याचिका पर अब अगली सुनवाई आठ दिसंबर को होगी। इससे पहले सोमवार को इस याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत होते हुए कोर्ट ने कहा था कि एक बार करेंसी के गैरकानूनी हो जाने के बाद सरकार अस्पतालों और पेट्रोल पंपों जैसी कुछ पब्लिक सर्विस को पुराने नोट लेने के लिए कैसे कह सकती है। 2000का नया नोट बंद करने की मांग... -इस पिटिशन में 2000 रुपए के नए नोट बंद करने की मांग भी की गई है और नोटबंदी के कदम को असंवैधानिक और खराब नियम बताया गया है। -पिटिशनर के वकीलों ए. मैत्री और राधिका चंद्रशेखर ने अदालत से अपील की कि 8 नवंबर और उसके बाद जारी विभिन्न नोटिफिकेशंस को कैंसिल किया जाए। वकीलों ने कहा कि ये नोटिफिकेशंस देश के संविधान और भारतीय रिजर्व बैंक कानून का उल्लंघन है।


केंद्र ने महिला की हत्या पर दिल्ली पुलिस से रिपोर्ट मांगी
21 November 2016
केंद्र ने उत्तरी दिल्ली के बुराड़ी इलाके में हुई महिला की हत्या के बारे में दिल्ली पुलिस से रिपोर्ट मांगी है। गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने कहा कि जो भी हुआ वह बहुत दुखद है। हमने घटना पर दिल्ली पुलिस आयुक्त से एक रिपोर्ट मांगी है। बुराड़ी में मंगलवरा को पीछा करने वाले 34 वर्षीय एक व्यक्ति ने 22 बार चाकू मारकर 21 वर्षीय एक युवती की हत्या कर दी, जो कि एक शिक्षिका थी। उसने पीड़िता पर उस समय हमला किया जब वह सुबह नौ बजे इलाके से गुजर रही थी। इस घटना ने महिलाओं की सुरक्षा पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है। आप की महिला विधायकों ने जताई नाराजगी बुराड़ी सरेआम कैंची से गोदकर एक युवती की हत्या मामले को आम आदमी पार्टी ने महिला सुरक्षा के लिए बहुत गंभीर बताया है। पार्टी ने कहा है कि केवल महिलाओं की सुरक्षा को लेकर अब कोरे आश्वासन से काम नहीं चलेगा। दिल्ली पुलिस को इसके लिए रोड मैप प्रस्तुत करना होगा।



BJP सांसदों की मीटिंग में भावुक हुए मोदी: कहा- नोटबंदी को सर्जिकल स्ट्राइक ना कहें
21 November 2016
मंगलवार को बीजेपी पार्लियामेंट्री बोर्ड की मीटिंग में नरेंद्र मोदी भावुक हो गए। भाषण में मोदी ने पार्टी सांसदों से साफ कहा कि नोटबंदी का फैसला देशहित में लिया गया है। इसे कतई सर्जिकल स्ट्राइक न कहें। सर्जिकल स्ट्राइक सिर्फ जवान ही कर सकते हैं। मोदी ने कहा कि ये फैसला तो गरीबों के हित में लिया गया है। इससे ब्लैकमनी बाहर लाने में मदद मिलेगी। उन्होंने यह भी कहा कि लोग नरेंद्र मोदी ऐप पर इस फैसले के बारे में अपनी रेटिंग दें। मोदी ने गिनाए नोटबंदी के फायदे.... - मोदी ने कहा कि सरकार के इस फैसले से करप्शन पर तो रोक लगेगी ही, इसके अलावा मनी लॉन्ड्रिंग को भी रोका जा सकेगा। पीएम ने साफ कहा कि ये फैसला आखिरकार देश के गरीबों के ही काम आएगा। - मोदी ने अपोजिशन के विरोध पर कहा कि वो नोटबंदी पर गलत जानकारी फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। बीजेपी सांसदों को जनता के बीच जाकर इसके फायदे बताने चाहिए।



LG हाउस के बाहर डिप्टी सीएम पर फेंकी स्याही, सिसोदिया ने कहा- BJP की साजिश
21 November 2016
नई दिल्ली.डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया पर सोमवार को एलजी हाउस के बाहर स्याही फेंकी गई। वे एलजी नजीब जंग से डेंगू और चिकनगुनिया के बढ़ते मामलों को लेकर बातचीत करने गए थे। मीटिंग के बाद जैसे ही सिसोदिया ने मीडिया से बात करनी शुरू की उसी समय बृजेश शुक्ला नाम के शख्स ने उन पर स्याही फेंक दी। यह शख्स मंत्रियों के दिल्ली से बाहर होने को लेकर नाराज था। बता दें कि सिसोदिया फिनलैंड के दौरे से लौटे हैं। वहीं, सीएम केजरीवाल अपनी सर्जरी के लिए बेंगलुरु गए थे। पुलिस ने बृजेश को हिरासत में ले लिया है। क्या कहना है स्याही फेंकने वाले का... - बृजेश शुक्ला का कहना है कि इन लोगों ने गलत काम किया है, हमारे पैसे से ये बाहर घूम रहे हैं। समंदर के सामने फोटो खिंचवा रहे हैं। - सिसोदिया ने इस घटना को लेकर कहा कि यह बीजेपी और कांग्रेस की साजिश है। - डीसीपी नॉर्थ मधुर वर्मा ने बताया कि बृजेश को हिरासत में ले लिया गया है। उससे पूछताछ की जा रही है।



प्रेस की आजादी जरूरी, सरकारों को मीडिया के काम में दखल नहीं देना चाहिए : पीएम
21 November 2016
पीएम नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय प्रेस दिवस के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि प्रेस की आजादी बेहद जरूरी है और इस पर बाहरी कंट्रोल समाज के लिए सही नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकारों को प्रेस के कामकाज में दखल नहीं देना चाहिए। पत्रकारों की हत्या पर जताई चिंता... -पीएम ने पत्रकारों की हत्या पर चिंता जाहिर की। पीएम ने कहा कि हर मौंत चिंता पैदा करती है लेकिन सच दिखाने के लिए पत्रकारों की हत्या बहुत गंभीर विषय है। -पीएम ने कहा कि हम सबको पता है कि प्रेस काउंसिल ने किस तरह से इमरजेंसी का विरोध किया था। मोररजी भाई के पीएम बनने के बाद ही हालात नॉर्मल हुए थे। -पीएम ने कहा कि नेपाल भूकंप के बाद मीडिया ने शानदार भूमिका निभाई। मीडिया ने पूरे देश को पड़ोसी देश की मदद के लिए प्रेरित किया। -पीएम ने कहा कि मीडिया ने स्वच्छ भारत अभियान के मैसेज को फैलाने में बहुत बड़ा काम किया है।


ममता बोलीं- ATM का मतलब हो गया है 'आएगा तब मिलेगा'; नोटबंदी पर राष्ट्रपति भवन तक मार्च, नहीं मिला कांग्रेस-लेफ्ट का साथ
21 November 2016
नोटबंदी के खिलाफ अपोजिशन पार्टियां एकजुट हो गई हैं। दिल्ली में टीएमसी-आप समेत कई पार्टियां मार्च निकाल रही हैं। ममता बनर्जी की अगुआई में ये डेलिगेशन प्रेसिडेंट से मिलेगा। हालांकि, लेफ्ट और कांग्रेस ने इस मार्च से दूरी रखी। प्रेसिडेंट से मिलने के बाद ममता ने कहा, ''पहले एटीएम का मतलब होता था- All time Money अब इसका मतलब हो गया है- आएगा तब मिलेगा।'' ममता के मार्च में कौन-कौन शामिल हुआ... - बुधवार को बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की अगुआई में मार्च निकाला गया। - बीजेपी को सबसे बड़ा झटका उस वक्त लगा, जब महाराष्ट्र से उसकी सहयोगी पार्टी शिवसेना के सांसद भी इसमें शामिल हुए। - नेशनल कॉन्फ्रेंस लीडर उमर अब्दुल्ला भी इस मार्च में शामिल थे। - दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल मार्च में नजर नहीं आए, लेकिन आप सांसद भगवंत मान दिखे।।


दिल्ली-NCR में 4.4 तीव्रता का भूकंप: हरियाणा, राजस्थान में भी महसूस हुए झटके
19 November 2016
गुरुवार सुबह करीब 4.30 बजे राजधानी दिल्ली समेत हरियाणा और राजस्थान के कई हिस्सों में भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप के बाद फिलहाल किसी भी तरह के नुकसान की कोई खबर नहीं है। बताया जा रहा है कि रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 4.4 थी। कहां-कहां महसूस किए गए झटके... - रिपोर्ट्स के मुताबिक हरियाणा में रेवाड़ी के पास बावल भूकंप का केंद्र बताया जा रहा है। - वहीं राजस्थान के जयपुर और अलवर में भी भूकंप के तेज झटके आए हैं। खतरनाक जोन में है दिल्ली, 6 से ज्यादा तीव्रता वाला भूकंप मचा सकता है तबाही... - भू-वैज्ञानिकों ने भूकंप के खतरे को देखते हुए देश के हिस्सों को सीस्मिक जोन में बांटा है। - सबसे कम खतरा जोन 2 में है और सबसे ज्यादा जोन 5 में है। - दिल्ली जोन 4 में है, यहां रिक्टर पैमाने पर 6 से ज्यादा तीव्रता वाला भूकंप भारी तबाही मचा सकता है। - जोन 4 में मुंबई, दिल्ली जैसे शहर हैं। इनके अलावा जम्मू-कश्मीर, हिमाचल, पश्चिमी गुजरात, उत्तर प्रदेश के पहाड़ी इलाके और बिहार-नेपाल सीमा के इलाके इसमें शामिल हैं। यहां भूकंप का खतरा लगातार बना रहता है।



नोटबंदी से 7 दिन में 34 मौतें, सबसे ज्यादा मौतंे हार्ट अटैक और सुसाइड से हो रही हैं
18 November 2016
नोटबंदीके फैसले से देश कतार में खड़ा है। नकदी के संकट से जूझ रहे देश में एक हफ्ते में 34 मौतें हो चुकी हैं। इसमें ज्यादातर मौतें सदमे की वजह से हुई है। कई लोगों ने परेशानी से जूझने की जगह सुसाइड कर ली। ब्रिटेन की न्यूज वेबसाइट हफिंगटन पोस्ट ने तमाम मीडिया रिपोर्ट को आधार बनाकर दावा किया है। महाराष्ट्र के नांदेड़ जिले में बुधवार को बैंक की लाइन में खड़े 70 साल के व्यक्ति की मौत हो गई। पुलिस के मुताबिक दिगंबर मरीबा टूप्पा कस्बे में एसबीआई के बाहर लाइन में खड़े थे। वह अचानक बेहोश होकर गिर पड़े। अस्पताल ले जाते वक्त उनकी मौत हाे गई। रिपोर्ट के मुताबिक कई लोगों की मौत कई घंटों तक लंबी कतारों में लगने के दौरान हुई है। तो कुछ इस फैसले के आने के तुरंत बाद सदमे से हुई। कई मामले ऐसे भी हैं जब खुले पैसे नहीं होने की वजह से अस्पतालों ने इलाज करने से मना कर दिया। इसके अलावा पश्चिम बंगाल में एक शख्स ने फांसी लगा ली। इसको लेकर विपक्ष मोदी सरकार की तीखी आलोचना कर रही है। उस पर फैसले को वापस लेने के लिए दबाव बना रहा है। हालांकि सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि किसी भी कीमत भी फैसला वापस नहीं लेंगे।



डीयू ने कोर्ट से कहा, 'स्मृति ईरानी के 1996 के BA के दस्तावेज अब तक नहीं मिले'
17 November 2016
नई दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय ने आज यहां एक अदालत को बताया कि 1996 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी के बीए कोर्स करने से संबंधित दस्तावेज अब तक नहीं मिले हैं। ईरानी ने 2004 के लोकसभा चुनाव के दौरान दायर हलफनामे में इस कोर्स का उल्लेख किया था।
अदालत ने विश्वविद्यालय के पत्राचार विभाग से यह दस्तावेज तलब किए थे क्योंकि ऐसा आरोप था कि ईरानी ने अप्रैल, 2004 के चुनाव में अपने हलफनामे में दावा किया था कि उन्होंने 1996 में बीए किया था।
विश्वविद्यालय के पत्राचार विद्यालय के सहायक पंजीकार ओ पी तंवर ने मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट हरविंदर सिंह से कहा, ‘उनके बीए से संबंधित 1996 के दस्तावेज अभी मिलने बाकी हैं।’ वैसे तंवर ने 1993-94 के बी कॉम (ऑनर्स) के लिए प्रवेश प्रपत्र, इस कोर्स के परिणाम और 2013.14 में बीए (ऑनर्स) राजनीति विज्ञान प्रथम वर्ष में उनके अनुक्रमांक सह प्रपत्र पत्र समेत उनकी शिक्षा से जुड़े कुछ दस्तावेज पेश किए हैं।
उन्होंने कहा कि बी कॉम (ऑनर्स) के प्रवेश प्रपत्र के साथ सौंपे गए ईरानी की कक्षा 12 वीं के दस्तावेज भी नहीं मिले हैं। लेकिन उन्होंने कहा कि प्रवेश से पहले सत्यापन अवश्य ही किया गया होगा।
अदालत ने उत्तरी दिल्ली के एसडीएम को चांदनी चौक निर्वाचन क्षेत्र से वर्ष 2004 का चुनाव लड़ने के लिए ईरानी द्वारा हलफनामे के साथ दिए गए दस्तावेज भी देने को कहा। मामले की अगली सुनवाई छह जून को होगी।
अदालत ने पहले चुनाव आयोग और दिल्ली विश्वविद्यालय को ईरानी के खिलाफ दर्ज इस शिकायत पर शैक्षणिक योग्तया से जुड़े प्रमाणपत्र पेश करने का निर्देश दिया कि उन्होंने चुनाव आयोग के समक्ष हलफनामों में गलत सूचनाएं दीं।



सातवें दिन भी बैंकों और एटीएम के बाहर लोगों की लंबी कतारें
17 November 2016
बड़े नोट बंद करने के सरकार के फैसले को तत्काल वापस लेने की मांग को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को विभिन्न दलों के नेताओं के साथ राष्ट्रपति भवन तक मार्च किया। उन्होंने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाकात कर उन्हें ज्ञापन भी सौंपा। इस दौरान उनके साथ जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, तृणमूल कांग्रेस के सभी सांसद, आप सांसद भगवंत मान, शिवसेना के सांसद आनंदराव अडसुल, नेशनल कांफ्रेंस नेता भी मौजूद थे। वहीं नोटबंदी के सातवें दिन भी दिल्ली की बैंकों और एटीएम के बाहर लोगों की भारी भीड़ रही। नोट बदलवाने के लिए लोग सुबह से ही लाइन में खड़े रहे। बुधवार को बैंकों में नोट बदलने के बाद लोगों की अंगुली पर वोट वाली स्याही भी लगाई गई, ताकि वो दोबारा नोट न निकाल सकें।


दिसंबर 15 से शुरू होंगे नर्सरी दाखिले!
16 November 2016
दिल्ली के पब्लिक स्कूलों में नर्सरी दाखिलों को लेकर तैयारी शुरू हो गई है। इस साल जनवरी के बजाय दिसंबर से ही दाखिले शुरू होने की संभावना है। शिक्षा निदेशालय के वरिष्ठ अधिकारी बताते हैं कि पंद्रह दिसंबर से दाखिला आवेदन प्रक्रिया शुरू हो सकती है। पिछले साल लंबी चली इस प्रक्रिया को देखते हुए प्रयास किया जा रहा है कि नए साल से पहले दाखिले के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू हो। इस बार सरकार दाखिले में कैपिटेशन फीस को लेकर ज्यादा सख्त रहेगी। 10 गुना जुर्माने के अलावा फीस की रसीद भी अभिभावकों को देनी अनिवार्य होने वाली है। ऐसे में स्कूलों के लिए दाखिला फीस लेना एक बड़ी चुनौती बनेगी। निदेशालय के अधिकारी बताते हैं कि आर्थिक पिछड़े वर्ग (ईडब्ल्यूएस)की दाखिला प्रक्रिया पूरी तरह से ऑनलाइन रहेगी और निशुल्क होगी। सरकार की ओर से ड्रॉ निकालकर सीटों का आवंटन ऑनलाइन किया जाएगा। नर्सरी दाखिले की प्रक्रिया में प्वाइंट क्राइटेरिया सिस्टम में कुछ बदलाव किया जा सकता है। इससे छात्र-छात्रा अनुपात कक्षाओं में दुरूस्त हो सके। प्वाइंट क्राइटेरिया सिस्टम तय करने की छूट स्कूलों की होगी। बता दें कि पिछले साल नर्सरी दाखिले की दौड़ एक जनवरी से शुरू हुई थी और आवेदन प्रक्रिया 22 जनवरी तक चली थी।


VIRAL: नोट बदलने गई लड़की बैंक के बाहर हुई टॉपलेस, 10 मिनट में मिले पैसे
16 November 2016
.पुराने नोट बदलने के लिए बैंक की लंबी लाइन में खड़ी लड़की के टॉपलेस होने की फोटो वायरल हो गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, घटना दिल्ली के मयूर विहार फेस-3 की है। रविवार दोपहर एक 24 साल की लड़की यहां 500 और 2000 के नए नोट लेने के लिए आई थी। वह करीब 3 घंटे से बैंक के बाहर खड़ी थी। अचानक उसने हंगामा शुरू कर दिया। इतना ही नहीं लड़की ने गुस्से में अपने कपड़े उतार दिए, जिसके बाद सभी हैरान रह गए। पुलिस ने किसी तरह हालात काबू किए और अंदर ले जाकर 10 मिनट में उसे रुपए दिलवाए। पुलिस बोली- ट्रांसजेंडर थी लड़की... - डीसीपी ईस्ट दिल्ली, ऋषिपाल सिंह ने dainikbhaskar.com से घटना की पुष्टि की। उन्होंने कहा, ''बैंक के बाहर लड़की के हंगामा करने की खबर मिलने पर महिला पुलिस के साथ टीम मौके पर पहुंची थी। हालांकि वो एक ट्रांसजेंडर थी, पैसे दिलवाने के बाद वह चली गई। मामले में कोई शिकायत दर्ज नहीं हुई है।'' - घटना के फोटो सोमवार को सोशल मीडिया में वायरल हो रहे हैं। सरकार के इस फैसले का विरोध करने वाले नेता और आम लोग फोटो के जरिए आलोचना कर रहे हैं।



RBI के सामने धरने पर बैठे केजरी-ममता: रैली में बनर्जी बोलीं- सब्जी नहीं तो क्या ATM खाएगा आदमी
16 November 2016


नोटबंदी के खिलाफ अरविंद केजरीवाल और ममता बनर्जी ने दिल्ली में रैली की। ममता बनर्जी ने कहा- लोगों को सब्जी और खाने-पीने की चीजें नहीं मिलेंगी तो क्या वो एटीएम और डायमंड खाएंगे। केजरीवाल ने कहा, पहले एक कमरे में 100 करोड़ आ जाते थे, अब 200 करोड़ रख सकते हैं। केजरीवाल ने कहा कि शराब कारोबारी विजय माल्या को मोदी ने लंदन भगा दिया। रैली से निकले दोनों नेता सीधे आरबीआई ऑफिस पहुंचे। यहां लाइन में खड़े लोगों से मिलने के बाद धरने पर बैठ गए। बैंक के रीजनल डायरेक्टर ने आकर उनसे बात की।मुख्यमंत्रियों की हुआ विरोध... - रैली के पहले हंगामा हुआ। मोदी जिंदाबाद के नारे लगे। आजादपुर सब्जी मंडी पहुंचने से पहले ही दोनों मुख्यमंत्रियों के विरोध में कुछ लोगों ने काले झंडे दिखाए। - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आरबीआई के सामने भी उन्हें विरोध का सामना करना पड़ा। उनके सामने लोगों ने मोदी-मोदी के नारे लगाए।

 



हुरुन की रिपोर्ट; रामदेव के शिष्य बालकृष्ण के पास 25 हजार करोड़ की प्रॉपर्टी, 5 साल पहले कहा था- मेरे पास बैंक खाता तक नहीं
16 November 2016
नई दिल्ली.बाबा रामदेव के शिष्य और पतंजलि आयुर्वेद के प्रमोटर आचार्य बालकृष्ण देश के टॉप अमीरों में शामिल हो गए हैं। चीनी मैगजीन हुरुन ने दावा किया है कि बालकृष्ण के पास 25 हजार 600 करोड़ की प्रॉपर्टी है। 339 भारतीयों की ‘इंडिया रिच लिस्ट-2016’ में उन्हें 25वें नंबर पर रखा है। बालकृष्ण को लेकर यह दावा चौंकाने वाला है, क्योंकि कुछ समय पहले रामदेव ने पतंजलि का टर्नओवर 5 हजार करोड़ रु. बताया था। 5 साल पहले बालकृष्ण ने कहा था कि उनके पास बैंक अकाउंट तक नहीं है। मैगजीन के मुताबिक, एफएमसीजी सेक्टर में डाबर के आनंद बर्मन पहले नंबर पर हैं। उनकी प्रॉपर्टी 41,800 करोड़ है। पतंजलि के 94% शेयर होल्डर हैं बालकृष्ण... - HuRun की हाल ही में जारी रिपोर्ट में कहा गया है, ''पतंजलि भारत का सबसे तेजी से बढ़ता FMCG ब्रान्ड है। 2015-16 में इंडियन मार्केट में इसकी ग्रोथ 150% रही है।'' - ''फिलहाल, पतंजलि का सालाना टर्नओवर 5000 करोड़ है। 2017 में दोगुना होने का अनुमान है।'' - HuRun मैगजीन हर साल चीन के अमीर लोगों की लिस्ट जारी करती है। 2012 से इसने अमीर भारतीय सीईओ की लिस्ट जारी करना शुरू किया था। - मि‍नि‍स्‍ट्री ऑफ कॉरपोरेट अफेयर्स (MCA) के मुताबि‍क, पतंजलि आयुर्वेद में बालकृष्‍ण की शेयर होल्‍डिंग 94% है। बाबा रामदेव ब्रान्ड प्रमोटर हैं।



बैंकों में हेलिकॉप्टर पहुंचा रहा कैश, जरूरी सेवाओं में 24 नवंबर तक चलेंगे 500-1000 के नोट
16 November 2016
इकोनॉमिक अफेयर्स एडवाइजर शक्तिकांत दास ने सोमवार को बताया कि 24 नवंबर तक पेट्रोल पंप, सरकारी हॉस्पिटल समेत प्राइवेट मेडिकल स्टोर्स और बिजली कंपनी के ऑफिस में 500-1000 के पुराने नोट दिए जा सकेंगे। बैंक से एक हफ्ते में 24 हजार निकाल सकेंगे। बैंकों में दिव्यांगों और बुजुर्गों के लिए अलग से लाइन लगेगी। आज या कल से एटीएम से 2000 के नोट भी निकलने लगेंगे।' इस बीच आरबीआई ने बैंकों में नोट पहुंचाने के लिए हेलिकॉप्टर को लगाया है। वहीं, 18 नवंबर तक देश के सभी नेशनल हाईवे को टोल फ्री कर दिया है। नोट लेकर बोकारो पहुंचा एयरफोर्स का प्लेन... - एएनआई न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सरकार ने नोट की सप्लाई में तेजी लाने के लिए हेलिकॉप्टर का इस्तेमाल कर रही है। - "सोमवार को आरबीआई ने झारखंड के बोकारो में प्लेन के जरिए सप्लाई की।" नेशनल हाईवे 18 नवंबर तक टोल फ्री - सरकार ने देश के सभी नेशनल हाईवे को 18 नवंबर तक टोल फ्री कर दिया है। - इससे सुबह, इकोनॉमिक अफेयर्स एडवाइजर शक्तिकांत दास ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा- 'लोगों की सुविधाओं का ध्यान रखा जाएगा। बैंकों में दिव्यांगों और बुजुर्गों के लिए अलग से लाइन होगी।" - 'प्राइवेट बिजली कंपनी के ऑफिस और निजी मेडिकल स्टोर पर भी पुराने नोट लिए जाएंगे।' - 'आज या कल से एटीएम से 2000 के नोट निकलने लगेंगे।' - '2 लाख इम्प्लॉइज काम पर लगे हुए हैं।'


36वां इंटरनेशन ट्रेड फेयर आज से शुरू, मेले के आयोजकों का दावा नोट बंदी का नहीं पड़ेगा असर
15 November 2016
केन्द्र के 500 और 1,000 रुपए के नोट बंद करने के फैसले के बीच सोमवार से प्रगति मैदान में 36वां इंडिया इंटरनेशनल ट्रेड फेयर (IITF) शुरू हो रहा है। प्रेसीडेंट प्रणब मुखर्जी 14 नवंबर को हंसध्वनि थियेटर में मेले का उद्घाटन किया। नोट बैन के साए में ट्रेड फेयर... -इस बार सबसे बड़ा सवाल यही है कि क्या नोट बैन होने का असर ट्रेड फेयर पर पड़ेगा या नहीं। -मेले की आयोजक संस्था इंडिया ट्रेड प्रमोशन ऑर्गेनाइजेशन (ITPO) के CMD एल.सी. गोयल ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा 500 और 1,000 रुपए के नोटों को बंद करने का मेले पर कोई असर नहीं पड़ेगा। -उन्होंने कहा, मेले के पहले पांच दिन 14 से 18 नवंबर बिजनेस विजिटर्स के लिए होते हैं। इस दौरान कारोबारी प्रॉडक्ट्स को देखते और समझते हैं। इनोवेटिव टैक्नोलॉजी के साथ प्रॉडक्ट्स का पेश किया जाता है। इसमें नकद लेनदेन नहीं होता है, बल्कि कारोबार विस्तार की संभावनाएं तलाशी जाती है। -उन्होंने कहा कि आम विजिटर्स के लिए 19 नवंबर से जब मेला खुलेगा तब भी खरीदारों को कोई परेशानी नहीं होगी। -गोयल ने कहा कि मेले में 60% खरीद फरोख्त कार्ड के जरिए करने का अरेंजमेंट होगा। इसके अलावा मेला एग्जीबिटर्स के साथ हम मीटिंग करेंगे और उन्हें जो भी सुविधा चाहिए होगी उसमें उनकी मदद करेंगे। उन्हें कार्ड स्वेपिंग मशीन की सुविधा में भी मदद करेंगे। -गोयल ने कहा कि सरकार की 500 और 1,000 रुपए के नोट बंद करने का मतलब यह नहीं है कि इकॉनॉमी में नकदी की तंगी होने जा रही है। डेबिट, क्रेडिट कार्ड और चेक के जरिये भुगतान पर कोई रोक नहीं है।


पूर्व सैनिक को शहीद का दर्जा : दिल्ली सरकार के फैसले के खिलाफ दायर याचिकाओं पर HC आज सुना सकता है फैसला
14 November 2016
दिल्ली हाई कोर्ट पूर्व सैनिक रामकिशन ग्रेवाल के फैमिली मेंबर्स को एक करोड़ रुपए का मुआवजा और किसी एक मेंबर को नौकरी देने के आप सरकार के फैसले के खिलाफ दायर अलग-अलग याचिकाओं पर आज अपना फैसला सुना सकती है। बता दें राम किशन ग्रेवाल ने कथित तौर पर वन रैंक, एक पैंशन (OROP) से जुड़ी शिकायतों को लेकर दिल्ली में खुदकुशी कर ली थी। पिटिशनर्स ने कहा यह खुदकुशी का महिमामंडन... -आप सरकार ने कोर्ट में अपने इस फैसले का बचाव करते हुए इन याचिकाओं को प्री मैच्योर बताया था। दिल्ली सरकार का कहना था कि फैसले मंजूरी के लिए अभी एलजी के पास भेजे जाने हैं। - पूर्वकर्मी पूरण चंद आर्य और एडवोकेट अवध कौशिक की तरफ से ये पिटिशंस दायर की गई हैं। -अवध कौशिक की तरफ से दायर जनहित याचिका में में ग्रेवाल को शहीद घोषित करने के आप सरकार के फैसले का भी विरोध किया गया है। पिटिशनर ने कोर्ट में कहा है कि सीएम अरविंद केजरीवाल को खुदकुशी जैसे कदम का महिमामंडन नहीं करना चाहिए। -पटिशनर्स का यह भी कहना है कि ग्रेवाल दिल्ली के निवासी नहीं थे। उन्हें दिल्ली सरकार मुआवजा कैसे दे सकती है। उनका यह भी कहना है कि यह 1 करोड़ की रकम दिल्ली के जनता द्वारा टैक्स में दिए पैसे हैं।



क्या लोग 50 दिन बैंकों की लाइन में लगे रहेंगे, अब 5 घंटे भी सहन नहीं: केजरी
14 November 2016
अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को एक बार फिर नोट बंद करने के सरकार के फैसले पर सवाल उठाया। प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा- 'अगर मोदी जी करप्शन को खत्म करने के लिए सीरियस हैं तो अपने कॉर्पोरेट दोस्तों के खिलाफ एक्शन क्यों नहीं लेते।' नरेंद्र मोदी द्वारा लोगों से 50 दिन तक दिक्कत उठाने की भावुक अपील पर दिल्ली के सीएम ने कहा- 'अब जनता 50 दिन क्या, 5 घंटे भी इंतजार करने के मूड में नहीं है। क्या लोग 50 दिन तक बिना दूध और सब्जी के बैंकों पर लाइन में खड़े रहेंगे?' केजरीवाल ने और क्या कहा... - केजरीवाल बोले- 'पहले मोदी ने कहा था कि 2 दिन में पैसे मिल जाएंगे, फिर जेटली ने कहा- 10 दिन लगेंगे। अब पीएम नई बात कर रहे हैं। लोग पैसे होने के बावजूद भी भूखे मर रहे हैं।' - 'जनता के अंदर दर्द है, मेरे पास हजारों लोगों के फोन आए हैं। अब वे 5 घंटे भी इंतजार करने के मूड में नहीं हैं। पीएम देश की जनता से इसके लिए माफी मांगें।'



1000-500 के नोट बंद होने से इन 7 सेक्टर पर पड़ा असर, चार दिन में बिका 25 टन सोना
14 November 2016
1000- 500 रुपए के पुराने नोट बंद करने की घोषणा के बाद बाजार, बैंक और घरों में हलचल मची हुई है। शहरों में छोटे नोटों के लिए लंबी लाइनें लगी हैं। बीते चार दिनों से देश में अधिकांश लोगों के पास छोटे नोट और खुल्ले पैसे नहीं हैं, जिसके कारण उनकी खरीदारी प्रभावित हो रही है। जिसका असर कई सेक्टर्स पर पड़ा है। यहां तक कि लोग रोजमर्रा की जरूरी चीजें भी नहीं खरीद पा रहे हैं। ऐसे में सोने की बिक्री बढ़ी है। आंकड़े देखें तो करीब 25 टन सोना खरीदा जा चुका है। ट्रेडर्स की बिक्री घटी, रिटेल स्टोर्स की बढ़ी... - एटीएम से नोट निकलना शुरू हो गए हैं, लेकिन दो हजार का नोट लेकर बाजार में निकलने वाले के हाथ निराशा ही लगती है। कोई भी खुल्ले पैसे देने के लिए तैयार नहीं है। - इस कारण से ट्रेडर्स की बिक्री करीब 70 फीसदी तक घटी है। रिटेल स्टोर्स पर खानपान के सामान की बिक्री ही ज्यादा हो रही है। - जबकि बड़े नोटों को जल्द से जल्द खर्च करने के कारण सोने की खरीद तेजी से बढ़ी है। - बीते चार दिनों में ही 25 टन सोना खरीदे जाने का अनुमान है। लोग अपने 500 और 1000 रुपए के नोट लेकर दुकानदारों के पास जा रहे हैं, देश के अलग-अलग शहरों में तय कीमत से अधिक पर सोना खरीदा जा रहा है। - इस दौरान सबसे कम बिक्री मोबाइल हैंडसेट की हो रही है। इसकी बिक्री 90 फीसदी तक गिर गई है, यही नहीं इसकी ऑनलाइन बिक्री भी तेजी से घट गई है।



JNU के लापता स्टूडेंट नजीब अहमद के केस की जांच अब क्राइम ब्रांच करेगी
14 November 2016
JNU के लापता स्टूडेंट नजीब अहमद के मामले की जांच दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच करेगी ताकि इस मामले पर नए सिरे से गौर किया जाए। साउथ ईस्ट के ज्वाइंट कमिश्नर आर पी उपाध्याय ने कहा कि इस बारे में ऑर्डर शुक्रवार को आया था। नजीब की मां ने की थी होम मिनिस्टर से मुलाकात... -एक दूसरे सीनियर अधिकारी ने कहा, नजीब की मां ने कुछ दिन पहले होम मिनिस्टर राजनाथ सिंह से मुलाकात की थी और मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग की थी। -केस को अलग नजरिए से देखने और सबूतों पर फिर से नजर डालने के लिए मामले को साउथ डिस्ट्रिक्ट से शुक्रवार को क्राइम ब्रांच को ट्रांसफर किया गया।


1 करोड़ के बचेंगे सिर्फ 12.70 लाख, जानें Black Money पर लगेगा कितना टैक्स
12 November 2016
1000-500 के नोटों पर बैन कालेधन पर पीएम मोदी की सर्जिकल स्ट्राइक से कम नहीं है। इसके बाद घरों में दबा धन अब बाहर निकलने लगा है। महज दो दिन में ही देशभर के बैंकों में 2 लाख करोड़ रुपए जमा हो चुके हैं। रेवेन्यू सेक्रेटरी हसमुख अधिया पहले ही कह चुके हैं कि कोई अपने खाते में 2.5 लाख रु. से ज्यादा जमा करता है तो इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को बताया जाएगा। कालेधन पर लगने वाले टैक्स के संबंध में भास्कर ने एक सीए से बात कि तो सामने आया की 1 करोड़ रुपए कालाधन रखने वाले व्यक्ति को कुल 87 लाख रुपए टैक्स के चुकाना होंगे। 200% लगेगी पैनल्टी... - बता दें की कालेधन पर लगने वाले टैक्स से अलग 200% पैनल्टी की वसूली भी की जाएगी। - इसके साथ कालेधन पर लगने वाले टैक्स पर 3% की दर से सेस भी लोगों से लिया जाएगा। - आपके पास अगर 5 लाख रुपए हैं तो उस पर टैक्स, पैनल्टी और सेस मिलाकर 77250 रुपए चुकाने होंगे। जिसके बाद आपके पास कुल 422750 रुपए बचेंगे। - वहीं 1 करोड़ के कालेधन पर सिर्फ 12,70,750 रुपए ही मिलेंगे। बाकी बचे 87 लाख रुपए टैक्स के रुप में चुकाने होंगे।


दिल्ली-जयपुर के बीच नया हाईवे बनेगा: 270 KM सफर 6 की बजाय 2 घंटे में होगा पूरा
12 November 2016
नई दिल्ली.केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के मुताबिक, दिल्ली और जयपुर के बीच नया हाईवे बनाया जा रहा है। इसे एक्सेस कंट्रोल हाईवे नाम दिया गया है। ये हाईवे तैयार होने के बाद दोनों शहरों के बीच की दूरी 6 के बजाय 2 घंटे में ही तय की जा सकेगी। इसका काम जनवरी 2017 में शुरू होगा। जल्द ही जमीन अक्वॉयर की जाएगी। 16 हजार करोड़ की लागत से बनेगा हाईवे... - गडकरी के मुताबिक, "दिल्ली-जयपुर एक्सेस कंट्रोल हाईवे पर करीब 16 हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे।" - "कंस्ट्रक्शन जनवरी 2017 में शुरू होगा। जल्द ही इसके लिए जमीन अक्वॉयर की जाएगी।" कैसा होता है एक्सेस कंट्रोल हाईवे - इस हाईवे को खासतौर पर हाई स्पीड व्हीकल्स के लिए डिजाइन किया जाता है। आने-जाने वाले व्हीकल्स को प्रॉपरली रेग्युलेट किया जाता है। - हाईवे के दोनों तरफ मेडिकल और दूसरी फैसिलिटीज मुहैया कराई जाती हैं। - दुनिया के कई देशों में इस तरह के हाईवे हैं। हालांकि, इन्हें नाम अलग-अलग दिए गए हैं।



नोटबंदी पर 15 एक्सपर्ट्स की राय: शादियों में दिखावा घटेगा, डॉक्टर्स की मनमानी थमेगी
11 November 2016
500-1000 के नोट बंद होने का काफी असर हुआ है। लोग बैंकों में पैसे जमा करा रहे हैं। इससे नकदी बढ़ेगी, कर्ज सस्ता होगा, महंगाई दर में भी कमी आएगी। यानी मकान सस्ते हो सकेंगे। इसके अलावा शादियों, चुनाव प्रचार में पानी की तरह पैसा बहाने की परंपरा खत्म हो सकती है। कैशलेस ट्रांजेक्शन का चलन बढ़ने से कैश में मोटी फीस वसूलने वाले डॉक्टर्स की मनमानी रुक सकेगी। एनजीओ ब्लैक मनी को व्हाइट बनाने का बड़ा जरिया है। ये सरकार के राडार पर होंगे। पर बेनामी खातों के पैसे वापस आने की उम्मीद कम है। नोट बंदी होते ही काले धन के रूप में जमा सारा कैश फ्रीज हो गया। व्हाइट मनी का कैश फ्लो भी बेहद सीमित है। देशभर में इसके कई पॉजिटिव-नेगेटिव असर होंगे। खर्चीली शादियां और चुनावों में अनाप-शनाप पैसे खर्च करने का चलन थम सकता है। ब्लैकमनी के दूसरे रास्ते भी निकलेंगे। अनुमान है कि डोनेशन के नाम पर कॉलेजों की सीटें भी गोल्ड में बिकेंगी।



गले के ऑपरेशन के लिए बेंगलुरु जाएंगे केजरीवाल, 15 दिन रहेंगे दिल्ली से दूर
11 November 2016
नई दिल्ली।सीएम अरविंद केजरीवाल अगले हफ्ते अपने गले के ऑपरेशन के लिए बेंगलुरु जाएंगे। उससे पहले वह पंजाब दौरे पर जाएंगे। केजरीवाल करीब 15 दिन दिल्ली से दूर रहेंगे।13 सितंबर को होगी गले की सर्जरी... -कफ की पुरानी बीमारी के इलाज के लिए केजरीवाल की 13 सितंबर को गले की सर्जरी होनी है। ऑपरेशन के बाद वह 10 दिन आराम करेंगे। -सरकार के एक सीनियर अधिकारी ने कहा, बेंगलुरु रवाना होने से पहले सीएम 8 सितंबर से चार दिन की पंजाब दौरे पर जाएंगे। -पंजाब में वह पार्टी के नेताओं से मिलेंगे तथा जनसभाओं को संबोधित करेंगे। -उन्होंने कहा, पंजाब दौरे के बाद 12 सितंबर को वह बेंगलुरु रवाना होंगे, जहां अगले दिन उनका ऑ'परेशन है। उनके 22 सितंबर को वापस लौटने की उम्मीद है। -केजरीवाल की गैरमौजूदगी में डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया सीएम का कामकाज संभालेंगे।



नए नोटों के पीछे हैं ये: PM ने 9 मिनट का वक्त देकर 2 घंटे तक सुना था इन्हें
11 November 2016
मंगलवार की शाम तक देश का माहौल दूसरे दिन की तरह ही सामान्य था। हालांकि, शाम को खबर आई कि एक महत्वपूर्ण मीटिंग के बाद पीएम नरेंद्र मोदी राष्ट्र के नाम संबोधन देंगे। इस एक खबर ने हलचल पैदा कर दी। लोगों को लगा शायद वे कोई बड़ी घोषणा करेंगे। भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव के मद्देनजर कयास युद्ध जैसी घोषणा को लेकर भी लगाए गए। पर उन्होंने जो कुछ कहा वह, सबके अनुमान से अलग निकला। उन्होंने 500 और 1000 के पुराने नोटों को बंद करने की घोषणा की। अचानक लिए इस फैसले की हर ओर चर्चा हो रही है। लेकिन बहुत कम लोगों को उस आदमी के बारे में ज्यादा जानकारी होगी, जो पीएम के इस फैसले के पीछे अहम कड़ी है। दावा किया जा रहा है कि वह शख्स कोई और नहीं इंजीनियर अनिल बोकिल हैं। अनिल को मोदी ने दिया था मुलाकात के लिए 9 मिनट का वक्त, मिले तो दो घंटे तक सुनते रहे... क्योरा पर चर्चा : लोग पूछ रहे हैं कौन हैं अनिल बोकिल ? - सवाल-जवाब की साइट क्योरा पर अनिल बोकिल को लेकर खूब सवाल किए जा रहे हैं। लोग पूछ रहे हैं कि आखिर क्यों उनकी चर्चा हो रही है। - बता दें कि अनिल औरंगाबाद के मेकैनिकल इंजीनियर हैं। वे पुणे की 'अर्थक्रांति संस्थान' के अहम सदस्य हैं, जिसके प्रपोजल पर प्रधानमंत्री ने नोटों को बदलने का फैसला लिया। - अनिल बेहद साधारण तरीके से रहते हैं। वे औरंगाबाद में कई सफल प्रोजेक्ट कर चुके हैं। सोशियो-इकोनॉमिक डेवलपमेंट पर कई सेमिनारों को संबोधित कर चुके हैं।


लोग शेयरिंग में भरवा रहें है पेट्रोल, उधार में चल रहा है इलाज, किश्तों में मिल रही हैं
10 November 2016
500 और 1000 रुपए के नोट बंद होने से लोग काफी परेशान हैं। दिल्ली के बाजार खाली पड़ें है और व्यापारियों का कहना है कि व्यापार आधे से भी कम रह गया है। सरकार के फैसले को लेकर भी लोगों की राय बंटी हुई नजर आई जहां ज्यादतर लोग इसके सपोर्ट में दिखे वहीं कुछ लोग इससे असहमत भी थे हालांकि परेशानी सभी को झेलनी पड़ रही है। पेट्रोल पंप्स पर लंबी-लंबी लाइनें लगी हैं। कई जगहों पर 500 या 1000 के नोट ही नहीं लिए जा रहे है तो कई जगह नोट लेकिन खुले पैसे वापस नहीं दिये जा रहें है। एक के पैसों से दो को पेट्रोल... -पेट्रोल पंपों पर हालत बहुत बुरी है। हालांकि सरकार की घोषणा के तहत पेट्रोल पंप को छूट दी गई थी लेकिन कुछ पेट्रोल पंपों ने 500 और 1000 के नोट लेने से ही मना कर दिया। दूसरी तरफ जो पेट्रोल पंप 500 और 1000 के नोट ले रहे हैं वो खुले पैसे नहीं दे रहें है। -एस. एस. सर्विस पेट्रोप पंप के मैनेजर लोकेश कुमार का कहना है कि हम 500 रुपए ले रहें है लेकिन वापस खुले पैसे नहीं देंगे क्योंकि हमारे पास खुले पैसे बचे ही नहीं। इस घोषणा के बाद से जो भी हमारे पास पेट्रोल भरवाने आया 500 या 1000 का नोट लेकर ही आया जिसकी वजह से हमारे सारे खुले पैसे खत्म हो गए।


हर वो बात जो नए नोटों के बारे में जानना चाहेंगे आप, RBI ने बताए ये 17 फीचर्स
9 November 2016
केंद्र सरकार ने 9 नवंबर से 500 और 1000 के पुराने नोटों को बंद कर दिया है। इनकी जगह अब 500 और 2000 रुपए के नए नोट जारी किए जाएंगे। आरबीआई के मुताबिक, जल्द ही दो हजार रुपए के नए नोट जारी होंगे। एक प्रेस ब्रीफिंग कर आरबीआई ने 500 और 2000 के नए नोट के 17 फीचर्स बताए हैं। गहरे गुलाबी रंग का होगा नया नोट... - दो हजार रुपए का नया करेंसी नोट मैजेंटा (गहरा गुलाबी) रंग का होगा। इसमें महात्मा गांधी की नई सीरीज वाली फोटो होगी। (500-1000 के नोट बंद, लेकिन घबराए नहीं, रखें इन बातों का ध्यान- देखें वीडियो) - नए नोट में किसी तरह का कोई लेटर नहीं होगा। इसके अलावा, इसमें आरबीआई के नए गवर्नर उर्जित पटेल के सिग्नेचर होंगे। - नोट के पीछे की तरफ इसका प्रिंटिंग ईयर '2016' पब्लिश होगा। वहीं, पीछे की ओर मंगलयान की फोटो होगी। नोट के आगे और पीछे का डिजाइन जियोमेट्रिक पैटर्न कलर के हिसाब से होगा। फीचर्स में जानें नए 2000 के नोट की खासियत #1. नोट के आगे की तरफ सी थ्रू रजिस्टर में दो हजार रुपए लिखा होगा। आइडेंटिफिकेशन मार्क के ऊपर दिखाई देने वाली फूल-सी आकृति सी थ्रू रजिस्टर के नाम से जानी जाती है। दो हजार के नोट में फूल की जगह इसका मूल्य होगा, जो रोशनी में दिखेगा।​ #2. नोट पर दो हजार की लेटेंट इमेज भी होगी। गांधीजी की फोटो के साइड में लेटेंट इमेज होती है। इसमें जितने का नोट है, उसकी संख्या लिखी होती है। #3. नोट में देवनागरी में भी नोट की वैल्यू यानी 2000 लिखा होगा। #4. इसके बीच में महात्मा गांधी की पोर्ट्रेट होगी। #5. लेफ्ट साइड में छोटे अक्षरों में आरबीआई और दो हजार लिखा होगा



देश में 12-15 साल के 70% और दुनिया में 89% बच्चे चाहते हैं तेज नेट
9 November 2016
डिजिटल क्रांति के इस दौर में बच्चों की भी प्राथमिकताएं बदल रही हैं। ज्यादातर बच्चे खेलने-कूदने बाहर जाने के बजाय टीवी देखना, गेम खेलना या मोबाइल पसंद कर रहे हैं। बच्चे नए दोस्त बनाना और सोशल मीडिया पर रहना ज्यादा पसंद करते हैं। 85% भारतीय बच्चे वो हर काम करना पसंद करते हैं, जिसके लिए उन्हें घर में मना किया जाता है। यह जानकारी बुकिंग डॉट कॉम के दुनिया भर में 5 से 15 साल के बच्चों के एक सर्वे में सामने आई है। - ‘लिटिल एडवेंचरर्स’ नाम के इस सर्वे के मुताबिक भारत के 70% जबकि दुनिया के 89% बच्चे छुटि्टयों में वाई-फाई या तेज इंटरनेट पसंद करते हैं। 5-11 साल वालों को मनमानी ज्यादा पसंद है। - लेकिन ये 12 से 15 साल के बच्चों की तुलना में ज्यादा सामाजिक भी हैं। उन्हें लोगों से मिलना-जुलना और दूसरे बच्चों के साथ खेलना भी पसंद है। जबकि इनसे बड़े बच्चों को सोशल साइट्स का इस्तेमाल करना ज्यादा पसंद है। - इसके अलावा बच्चे खाने-पीने की चीजों में पूरी आजादी पसंद करते हंै। यह सर्वे दुनिया भर में 5 से 15 साल के 22,564 बच्चों के बीच किया गया।



JNU और DU की दो महिला प्रोफसर पर आदिवासी शख्स के मर्डर का आरोप
9 November 2016
छत्तीसगढ़ में एक आदिवासी ग्रामीण के मर्डर के आरोप में दिल्ली यूनिवर्सिटी और जेएनयू की दो महिला प्रोफेसर समेत 11 माओवादी नेताओं के खिलाफ केस दर्ज हुआ है। नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में शामनाथ बघेल की हत्या के बाद उनकी पत्नी ने पुलिस में शिकायत दी थी। वुमन प्रोफेसरों को जांच में शामिल करने के लिए बस्तर पुलिस ने दोनों यूनिवर्सिटी को लेटर लिखा है। जल्द ही उनसे पूछताछ की जाएगी। प्रोफेसर्स पर आदिवासियों को उकसाने का आरोप... - आईजी (बस्तर रेंज) एसआरपी कल्लूरी ने बताया- "बघेल की हत्या के मामले में शनिवार को पत्नी ने शिकायत दर्ज कराई थी। एफआईआर में कुछ माओवादियों के साथ नंदिनी सुंदर (डीयू प्रोफेसर), अर्चना प्रसाद (जेएनयू प्रोफेसर), विनीत तिवारी (दिल्ली के जोशी अधिकार संस्थान), संजय पराटे (छत्तीसगढ़ में सीपीएम सेक्रेटरी) समेत 11 लोगों के नाम शामिल हैं।" - एक सीनियर अफसर ने बताया, ''आरोपियों के खिलाफ आईपीसी- 120बी, 302, 147, 148, 149 के तहत केस दर्ज किया गया है। पूछताछ के लिए जल्द ही एक टीम दिल्ली जाएगी।



विधायक राखी बिड़लान के पिता समेत AAP के दो नेताओं पर गैंगरेप का आरोप
9 November 2016
24 साल की एक महिला ने दिल्ली में आम आदमी पार्टी के दो नेताओं पर गैंगरेप का आरोप लगाया है। पीड़ित महिला का आरोप है कि रामप्रताप गोयल और भूपेंद्र बिड़लान ने टिकट का झांसा देकर उसके साथ कई बार गैंगरेप किया। गौरतलब है कि भूपेंद्र बिड़लान आम आदमी पार्टी के विधायक राखी बिढ़लान के पिता हैं और राम प्रताप पार्टी में जिला कोषाध्यक्ष है।पुलिस ने किया मामला दर्ज.. - महिला की शिकायत रोहिणी साउथ थान पुलिस ने आम आदमी पार्टी (आप) के दोनों नेताओं के खिलाफ गैंगरेप का मुकदमा दर्ज किया गया है। इनके खिलाफ आईपीसी की धारा 376-D/506 के तहत केस दर्ज किया है। -आउटर दिल्ली के डीसीपी एन.एन.तिवारी ने कहा कि हमने केस दर्ज कर लिया है और मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है। जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। -फिलहाल इस मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है


अमेरिका के अगले राष्ट्रपति होंगे ट्रंप, दिल्ली में मन रहा जश्न
9 November 2016
अमेरिका ने अपने नए राष्ट्रपति का चुनाव कर लिया है। तमाम दावों और सर्वोंं को नकारते हुए अमेरिकी वोटर्स ने डोनाल्ड ट्रंप को अगला राष्ट्रपति चुना लिया है। उनकी जीत के घोषणा के साथ दिल्ली में भी उनके सपोटर्स जश्न मनाने का शुरू।


दिल्ली में पॉल्यूशन डेंजरस लेवल पर, हवा में 12 गुना बढ़े जहरीले कण, 1800 स्कूल बंद
7 November 2016
राजधानी के लोग 17 साल के सबसे घने स्मॉग (धुंध और प्रदूषण) से बेहाल हैं। दिल्ली पॉल्यूशन कंट्रोल कमेटी के मुताबिक, शनिवार सुबह आनंद विहार और आरके पुरम में पार्टिकुलेट मैटर (PM10) की डेन्सिटी सेफ लेवल 100 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से करीब 12 गुना ज्यादा थी। कई इलाकों में पीएम 2.5 भी करीब 11 गुना ज्यादा रिकॉर्ड किया गया है। हवा जहरीली होने से लोगों को मास्क पहनकर निकलने की सलाह दी गई है। दिल्ली के 1800 स्कूलों में छुट्टी घोषित कर दी गई है।दस लाख बच्चों पर असर... - एयर पॉल्यूशन को देखते हुए शनिवार को दिल्ली के 1800 स्कूलों में छुट्टी घोषित कर दी गई। अगर सोमवार को भी हालात ठीक नहीं रहे तो छुट्टी बढ़ाई जा सकती है। - दिल्ली के तीनों नगर निगम – साउथ, नॉर्थ और ईस्ट के स्कूलों में कुल दस लाख बच्चे पढ़ते हैं। - हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन और पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन ने सुबह भलस्वा डंपिंग ग्राउंड का दौरा किया। यहां आग लगने से आसपास के इलाके में धुंध बढ़ गई है।



ट्रायल के दौरान एक ही ट्रेक पर टकराई दो मेट्रो ट्रेनें, बड़ा हादसा टला
7 November 2016
दिल्ली मेट्रो में शुक्रवार को ट्रायल के दौरान एक बड़ा हादसा होते-होते टल गया। ट्रायल के दौरान दो मेट्रो ट्रेन एक ही ट्रैक पर आ गईं। हादसे में किसी के हताहत नहीं हुआ है। डीएमआरसी ने इसकी जांच के आदेश दे दिए हैं। मेट्रो के इतिहास में आमने-सामने टक्कर की यह पहली घटना है। जनकपुरी-बोटेनिकल गार्डन लाइन पर हुआ हादसा... -सूत्रों के मुताबिक लाइन 8 पर शुक्रवार दोपहर 3.45 पर कालिंदी कुंज डिपो में यह हादसा हुआ। -लाइन 8 जनकपुरी वेस्ट से बोटेनिकल गार्डन तक है और इस लाइन पर कुल 25 स्टेशन है। -इस घटना ने मेट्रो की सुरक्षा व्यवस्था पर बड़ा सवाल खड़ा कर दिया है। इससे पहले जहांगीरपुरी और हुडा सिटी सेंटर लाइन पर मेट्रो खुले दरवाजे के साथ चल गई थी।



राहुल ने कहा- सरकार ने फौजियों को OROP दी ही नहीं, मोदीजी झूठ बोल रहे हैं
5 November 2016
वन रैंक-वन पेंशन के मुद्दे पर राहुल गांधी ने शुक्रवार को पूर्व फौजियों से मुलाकात की। इसके बाद राहुल ने कहा, ''मोदीजी ने देश से झूठ बोला है। आखिर एक्स सर्विसमैन जंतर-मंतर पर 509 दिन से क्यों खड़े हैं? वे इसलिए खड़े हैं क्योंकि हिंदुस्तान की सरकार ने वन रैंक-वन पेंशन को लागू ही नहीं किया। आज पूर्व फौजियों ने मुझे बताया कि सरकार ने OROP दिया ही नहीं है। उन्होंने सिर्फ पेंशन बढ़ा दी है। मोदीजी ने देश से झूठ कहा है।'' बता दें कि पिछले दिनों OROP के मुद्दे पर आर्मी से रिटायर्ड सूबेदार रामकिशन ग्रेवाल ने सुसाइड कर लिया था। उनके परिवार से मुलाकात की कोशिश में राहुल को दो दिन में तीन बार डिटेन किया गया था। राहुल ने और क्या कहा... - राहुल ने यहां कांग्रेस मुख्यालय में कहा, ''पूरे देश से यहां आज एक्स सर्विसमैन आकर मिले और बहुत अच्छी हमारी चर्चा हुई। दो-तीन चीजें उन्होंने सेना के बारे में बताईं। सबसे जरूरी चीज यह कही कि यह पैसे के मामला नहीं है। यह हमारी इज्जत का मामला है। ये न्याय का मामला है।''



माल्या कानून की कतई इज्जत नहीं करते, उनका देश लौटने का कोई इरादा नहीं
4 November 2016
पटियाला हाउस कोर्ट ने फेरा वॉयलेशन और चेक बाउंस मामले में विजय माल्या के खिलाफ दो गैर-जमानती वारंट जारी किए हैं। शुक्रवार को सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा कि माल्या कानून की कतई इज्जत नहीं करते। उनका भारत लौटने का कोई इरादा नहीं है। इससे पहले अक्टूबर में सुप्रीम कोर्ट ने माल्या से कहा था कि वे चार हफ्ते के अंदर अपने विदेशी एसेट्स की जानकारी सौंपे। बता दें कि बैंकों के 9000 करोड़ रुपए के कर्जदार माल्या मार्च से भारत से बाहर हैं और लंदन में रह रहे हैं। कोर्ट ने और क्या कहा... - पटियाला हाउस कोर्ट ने कहा कि माल्या का दावा है कि वे भारत लौटना चाहते हैं, लेकिन उनका पासपोर्ट रद्द हो चुका है। उनका यह दावा झूठा है। वे कानूनी प्रक्रिया का अपमान कर रहे हैं। - माल्या के खिलाफ कोर्ट 2012 के चेक बाउंस मामले में सुनवाई कर रहा था। - दरअसल, दिल्ली के इंदिरा गांधी एयरपोर्ट को ऑपरेट करने वाली कंपनी DIAL ने यह केस दायर किया है। - माल्या जब किंगफिशर के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर थे, तब उनकी एयरलाइन्स ने दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट अथॉरिटी लिमिटेड (DIAL) को कुल 7.5 करोड़ रुपए के चार चेक जारी किए थे। लेकिन एयरलाइन्स के बैंक अकाउंट में बैलेंस नहीं होने की वजह से ये बाउंस हो गए।


शीला दीक्षित से 400 करोड़ के वाटर टैंकर घोटाले में ACB ने पूछे 18 सवाल
4 November 2016
नई दिल्ली.वाटर टैंकर घोटाले मामले में एंटी करप्शन ब्यूरो (ACB) की टीम ने शीला दीक्षित से 15 मिनट तक पूछताछ की। रविवार को टीम 18 सवालों की लिस्ट तैयार कर दिल्ली की पूर्व सीएम के घर पहुंची। 400 करोड़ के इस घोटाले की शिकायत में अरविंद केजरीवाल पर मामले को दबाने का आरोप है। शीला ने जवाब देने के लिए मांगा वक्त... - पूछताछ के बाद शीला ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा, '‘एसीबी की टीम 18 सवालों की लिस्ट तैयार करके लाई थी। लेकिन मुझे इन सवालों का जवाब देने के लिए थोड़ा समय चाहिए। जवाब देने के लिए कोई टाइम लिमिट नहीं है, बहुत सी ऐसी डिटेल हैं जो अब मुझे याद नहीं है।’' - "इस मामले में राजनीतिक साजिश भी हो सकती है, ये टैंकर आज भी चल रहे हैं।"
- ये मामला 2011 का है। आरोप है कि दिल्ली में ड्रिंकिंग वाटर की सप्लाई के लिए टैंकरों को हायर करने में 400 करोड़ का घोटाला हुआ।


पॉल्यूशन की चपेट में दिल्ली, धुंध की चादर ने शहर को ऐसे ढका
4 November 2016
दिल्ली में पॉल्यूशन ने सबके चेहरे पर चिंता की लकीरें खींच दी है। राजधानी के लोग 17 साल के सबसे घने स्मॉग (धुंध और प्रदूषण) से बेहाल हैं। दिल्ली पॉल्यूशन कंट्रोल कमेटी के मुताबिक, शनिवार सुबह आनंद विहार और आरके पुरम में पार्टिकुलेट मैटर (PM10) की डेन्सिटी सेफ लेवल 100 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से करीब 12 गुना ज्यादा थी। कई इलाकों में पीएम 2.5 भी करीब 11 गुना ज्यादा रिकॉर्ड किया गया है। हवा जहरीली होने से लोगों को मास्क पहनकर निकलने की सलाह दी गई है। एमसीडी के 1800 स्कूलों में शनिवार की छुट्टी घोषित कर दी गई है



आईजीआई एयरपोर्ट पर बॉडी स्कैनर से होगी जांच
3 November 2016
इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर जल्द ही मुसाफिरों को सुरक्षा जांच के लिए बॉडी स्कैनर से गुजरना होगा। छह साल लंबी कवायद के बाद आईजीआई एयरपोर्ट के टर्मिनल थ्री पर बॉडी स्कैनर लगाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। बॉडी स्कैनर लगाने की जिम्मेदारी जर्मनी मूल की एक कंपनी को दी गई है। जर्मनी मूल की यह कंपनी सीआईएसएफ के अधिकारियों को बॉडी स्कैनर से सुरक्षा जांच की प्रक्रिया का प्रशिक्षण दे रही है। प्रारंभिक चरण में मुसाफिरों से इच्छानुसार बॉडी स्कैनर से सुरक्षा जांच का विकल्प मुहैया कराया जाएगा। इसके अलावा, जिन मुसाफिरों पर सुरक्षा एजेंसियों को शक होगा, उन्हें बॉडी स्कैनर से गुजरना होगा। ट्रायल सफल होने के बाद सभी मुसाफिरों के लिए बॉडी स्कैनर से सुरक्षा जांच अनिवार्य कर दी जाएगी।



डीयू में एडहॉक लेक्चरर्स को परमानेंट कराने की मांग हुई तेज, किया प्रदर्शन
3 November 2016
डीयू में हजारों एडहॉक शिक्षकों को स्थायी कराने की मांग को लेकर शुक्रवार को नॉर्थ कैंपस स्थित आर्ट फैकल्टी पर डीयू शिक्षक संघ (डूटा) और शिक्षक संगठनों की ओर से एकजुट होकर प्रदर्शन किया गया। इस दौरान एडहॉक टीचर्स के समर्थन में स्थायी शिक्षकों ने भी अपने विचार रखे। डूटा अध्यक्ष डॉ. नंदिता नारायण ने कहा कि उच्च शिक्षा के क्षेत्र में एडहॉक शिक्षकों की व्यवस्था एक शोषणकारी व्यवस्था है। इनसे भी उतना ही काम कराया जाता है, जितना स्थायी शिक्षक से। बावजूद इसके इन लोगों को महंगाई भत्ता व अवकाश के लाभ नहीं मिलते। गर्भवती एडहॉक महिला लेक्चरर्स को मातृत्व अवकाश नहीं मिलता। न ही अन्य चिकित्सकीय सुविधाएं।



हाई कमीशन के 4 अफसरों के नाम सामने आए, वापस बुला सकता है PAK
2 November 2016
जासूसी केस में पाक हाई कमीशन के अफसर महमूद अख्तर के शामिल होने के खुलासे के बाद पाकिस्तान अपने चार और अफसरों को वापस बुला सकता है। हालांकि, अभी इस पर आखिरी फैसला नहीं लिया गया है। पाकिस्तानी अखबार डॉन की रिपोर्ट में यह दावा किया गया है। अख्तर ने दबाव में आकर दिल्ली पुलिस के सामने बयान देने की बात कही है। बता दें कि दिल्ली पुलिस ने पिछले दिनों भारत में चल रहे ISI के जासूसी रैकेट का भंडाफोड़ किया था। इसमें वीजा अफसर समेत 4 भारतीयों को पकड़ा था। भारत सरकार के ऑर्डर पर अख्तर को पाकिस्तान भेजा जा चुका है। पूछताछ में अख्तर ने बताए अफसरों के नाम... - जासूसी के मकसद से भारत आए अख्तर ने पुलिस के सामने पाक हाई कमीशन के अफसरों के जासूसी रैकेट में शामिल होने की बात कबूली थी। - डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, अख्तर से पूछताछ के बाद जिन चार अफसरों के नाम पब्लिक किए गए, उनमें कमर्शियल काउंसलर सैयद फारुख हबीब, फर्स्ट सेक्रेटरी खादिम हुसैन, मुद्दसिर इकबाल चीमा और शाहिद इकबाल के नाम शामिल हैं। - अख्तर ने PAK मीडिया से कहा, ''दिल्ली में उसने दबाब में आकर बयान दिया है। वो (दिल्ली पुलिस) मुझे एक पुलिस स्टेशन में ले गए, जहां मुझे एक लिखित बयान पढ़ने के लिए दिया, जिसमें इन चारों के नाम थे। मुझे कहा गया कि मैं कहूं कि ये पाकिस्तान की इंटेलिजेंस सर्विस से ताल्लुक रखते हैं।


दिल्ली में चिकनगुनिया से अब तक 10,851 हुए पीड़ित, 15 की हुई मौत
2 November 2016
दिल्ली में इस मौसम में अब तक चिकनगुनिया के कम से कम 10,851 मामले सामने आए हैं। इनमें से 640 मामले पिछले ही हफ्ते के हैं। चिकनगुनिया के कुल मामलों में से लगभग 720 मामले उत्तरी दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी) के तहत आने वाले इलाकों में सामने आए हैं। दक्षिण दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) की रिपोर्ट में बताया गया है कि इस मौसम में 29 अक्तूबर तक 10,851 संदिग्ध मामले मिले हैं, जिनमें से 8,720 की पुष्टि हुई है। राष्ट्रीय राजधानी में इस रोग का आंकड़ा एसडीएमसी ने सभी निकायों की ओर से दिया है। शहर में 22 अक्तूबर तक चिकनगुनिया के 10,210 संदिग्ध मामले सामने आए थे। शहर के विभिन्न अस्पतालों में चिकनगुनिया से उत्पन्न हुई जटिलताओं के कारण कम से कम 15 मौतें हुई हैं हालांकि निकायों का तो यही मत है कि चिकनगुनिया के कारण एक भी मौत नहीं हुई है। दिल्ली और उत्तरी भारत के अन्य हिस्सों में चिकनगुनिया के मामलों में लगभग दस साल के बाद तेजी से बढ़ोतरी हुई है। वर्ष 2006 में चिकगुनिया के 13 लाख संदिग्ध्स मामले सामने आए थे। पिछले एक हफ्ते में दिल्ली में डेंगू के 317 मामले सामने आए हैं। इस महीने 29 अक्तूबर तक डेंगू के 1,517 मामले सामने आए।


25वीं बार मन की बात में मोदी बोले- ये दिवाली सुरक्षा बलों के नाम समर्पित हो
1 November 2016
नरेंद्र मोदी दिवाली के दिन 25वीं बार देशवासियों से ‘मन की बात’ की। उन्होंने लोगों को दिवाली की शुभकामनाएं दीं। साथ ही कहा, ''कुछ महीनों से सीमा पार से जो घटनाएं हो रही हैं, सेना के जवान उसका मुंहतोड़ जवाब रहे हैं। सेना के जवानों का यह त्याग, मेरे दिलों- दिमाग पर छाया है। ये दिवाली सुरक्षा बलों के नाम समर्पित हो। सर झुकाकर कहना चाहता हूं कि देश का कोई भी नहीं होगा, जो देश के जवानों को प्यार न करता हो। #Sandesh2Soldiers पर मैसेज भेजकर लोग जवानों के साथ खड़े हैं।''मोदी ने और क्या कहा... - "सभी को दिवाली की शुभकामनाएं।" - "आज पूर्णिमा और अमावस्या के दिन छुट्टी मनाई जाती थी। इसका वैज्ञानिक आधार था। आज रविवार को छुट्टी होने लगी है।" - "आज जो समाज में अंधकार छाया है, उसे दीया जलाकर दूर करें।" - "दिवाली के दिन हर परिवार में स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाता है।" - "केवल घर ही नहीं, पूरे परिसर, मोहल्ले, इलाके को साफ रखें।" - "दुनिया की कई सरकारों और देश में दिवाली की धूमधाम है।" - "यूएन पोस्टल सर्विस ने दिवाली का स्टांप जारी किया है। कनाडा के पीएम ने दीया जलाते हुए फोटो शेयर किया है। सिंगापुर पीएम ने भी दीया जलाते हुए फोटो शेयर की है।" - "सिंगापुर की हर गली में दिवाली का जश्न है। दिवाली के मौके पर वहां की 16 महिला सांसदों की फोटो वायरल हो रही है।"



डार्क स्पॉट होंगे रोशन, सरकार ने LED बल्ब और ट्यूब लगाने का काम शुरू किया
1 November 2016
दिल्ली सरकार ने शहर के डार्क स्पॉट्स को रोशन करने की दिशा में शनिवार को काम शुरू कर दिया। सीएम अरविंद केजरीवाल ने इसे दिल्ली को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाने की ओर एक बड़ा कदम बताया। 7,438 LED बल्ब या ट्यूब लगाने का प्लान -लोक निर्माण विभाग (PWD) ने नॉर्थ और ईस्ट दिल्ली में पहचान की गई अंधेरी जगहों पर 7,438 LED बल्ब या ट्यूब लगाने का प्लान बनाया है। -साउथ दिल्ली नगर निगम ने PWD को नो आब्जेक्शन सर्टिफिकेट (NOC) नहीं दिया है, इसलिए सरकार उस एरिया में LED नहीं लगा पाएगी। - PWD के सर्वे में ईस्ट दिल्ली नगर निगम इलाके में 124 और नॉर्थ दिल्ली नगर निगम ईलाके में 7304 डार्क स्पॉट्स की पहचान की गई है।



फ्लाइट में भूखे आर्मी जवानों के मदद की कहानी, क्यों वायरल हुई FB पोस्ट
26 October 2016
आर्मी जवानों की मदद करने संबंधी एक फेसबुक पोस्ट आजकल वायरल है। दावा किया जा रहा है कि एक बिजनेसमैन सरबजीत सिंह बॉबी ने आर्मी के जवानों को लंच कराया। पोस्ट को अब तक दस हजार से ज्यादा लोग शेयर कर चुके हैं। हालांकि वायरल हो रही यह पोस्ट झूठी साबित हुई है। जवानों के लंच की क्या है कहानी... - वायरल पोस्ट के मुताबिक बॉबी फ्लाइट से दिल्ली आ रहे थे। वे अपनी सीट पर बैठे किताब के पन्ने पलट रहे थे। तभी उन्होंने देखा कि इंडियन आर्मी के कुछ जवान उनकी आसपास की सीटों पर आकर बैठ रहे हैं। - बॉबी ने उनसे सफर के बारे में पूछा। सैनिक ने कहा कि हम आगरा जा रहे हैं, जहां हमारी दो हफ्ते की स्पेशल ट्रेनिंग है। शायद हमें इसके बाद किसी ऑपरेशन पर भेज दिया जाएगा। - करीब घंटे भर बाद फ्लाइट में अनाउंसमेंट हुआ कि लंच आपके खर्चे पर अवेलेबल है। उन्होंने नजदीक बैठे सैनिकों को कहते सुना कि 'क्या तुम लोग लंच खरीद रहे हो?' - इसका जवाब देते हुए दूसरे सैनिक ने कहा- नहीं, ये काफी महंगा है, मैं दिल्ली पहुंचने तक इंतजार करूंगा। फिर बॉबी ने दूसरे सैनिकों की तरफ देखा, उनमें से कोई भी लंच नहीं ले रहा था


राजनीतिक लाभ के लिए सीएम करते हैं बयानबाजी : उपाध्याय
25 October 2016
.प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा न्यायाधीशों के फोन टेप होने का आरोप लगाने पर कहा कि केजरीवाल सिर्फ राजनीतिक लाभ उठाने की चाह में बयानबाजी करते हैं। उन्होंने आप विधायक अलका लांबा द्वारा आतंकवादियों को लेकर जारी वीडियो पर दिए गए बयान की कड़ी निंदा की है। उपाध्याय ने कहा है कि केजरीवाल एवं उनके सहयोगी अक्सर प्रशासन, राष्ट्रीय सुरक्षा एवं न्यायपालिका से जुड़े मामलों पर टिप्पणियां कर जनता के सामने अपनी राजनीतिक अपरिपक्वता को दर्शाते हैं। ऐसा लगता है कि केजरीवाल एवं उनके सहयोगी अपने कार्य क्षेत्र से बाहर के इन मामलों पर सिर्फ राजनीतिक लाभ उठाने की चाह में बयानबाजी करते हैं। उपाध्याय ने कहा है कि मोदी सरकार न्यायपालिका का पूरा सम्मान करती है। इस सरकर में ऐसे अनेक वरिष्ठ मंत्री हैं जो पूरा जीवन न्यायपालिका से जुड़े रहे हैं और ऐसे में न्यायाधीशों पर किसी प्रकार की जासूसी का प्रयास इस सरकार के अंतर्गत संभव नहीं।


केजरीवाल ने कहा- सुना है जजों के फोन टेप हो रहे हैं, मोदी सरकार का आरोप से इनकार
25 October 2016
सीएम अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया है कि देश में जजों के फोन टेप किए जा रहे हैं। उन्होंने यह बात दिल्ली हाईकोर्ट के गोल्डन जुबली प्रोग्राम में कही। इस मौके पर चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर, गवर्नर नजीब जंग, पीएम नरेन्द्र मोदी और लॉ मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद भी मौजूद थे। केजरीवाल ने कहा, “पता नहीं यह सच है या नहीं, लेकिन मैंने दो जजों को आपस में बात करते सुना है कि उनके फोन टेप किए जा रहे हैं। अगर यह सच है तो ज्यूडिशयरी की आजादी पर सबसे बड़ा हमला है।” केजरीवाल ने कहा- ऐसा नहीं हो सकता… - केजरीवाल ने कहा, “मैंने जजों को फोन टेपिंग की बात करते सुना तो कहा- ऐसा नहीं होता। ऐसा होने से ज्यूडिशियरी की आजादी खतरे में पड़ जाएगी। उन्हें प्रभावित किया जा सकता है, लेकिन जजों ने बताया कि, ऐसा हो रहा है।” - बाद में केजरीवाल के आरोपों को मंच पर मौजूद कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सिरे से खारिज कर दिया। - प्रसाद ने कहा, “यह आरोप बिल्कुल झूठा है। भारत में ज्यूडिशियरी पूरी तरह स्वतंत्र है और यहां अभी तक जजों के फोन की टैपिंग नहीं हुई है।”


दिवाली के दिन पटाखों के कारण प्रदूषण हुआ नॉर्मल से सात गुना ज्यादा
25 October 2016
तमाम दावों के बावजूद इस बार भी दिवाली के दिन दिल्ली का पर्यावरण पूरी तरह से जहरीला हो गया। खास बात यह है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश और दिल्ली सरकार के अनेक प्रयासों के बावजूद इस बार दिवाली के दिन प्रदूषण स्तर पिछले साल की अपेक्षा ज्यादा बढ़ गया। रात में 10 बजे के बाद भी दिल्ली एनसीआर में जमकर आतिशबाजी की गई। हर तीसरा बच्चा फेफड़े की समस्या से पीड़ित... - सेंटर फॉर साइंस एंड एंवायरमेंट ने रिपोर्ट जारी करते हुए कहा है कि प्रदूषण को रोकने के लिए न तो किसी तरह का ठोस पॉलिसी एक्शन लिया गया और न ही ठीक ढंग से जागरूकता अभियान चलाया गया। - यह दिल्ली जैसे महानगर के लिए काफी चिंताजनक है, जहां पर हर तीसरा बच्चा फेफड़े की समस्या से पीड़ित है। ऐसे में दिल्ली इस बार सर्दियों के मौसम में एक बार फिर से प्रदूषण की मार झेलने के लिए तैयार हो जाए। - सेंटर फॉर साइंस एंड एंवायरमेंट (सीएसई) ने दिल्ली पॉल्यूशन कंट्रोल कमेटी की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा है कि राजधानी में दिवाली के मौके पर प्रदूषण स्तर पिछले साल के अपेक्षा काफी खतरनाक स्तर पर पहुंच गया।



पत्नी के सुसाइड केस में नेशनल कबड्डी प्लेयर अरेस्ट, ससुर ने किया सरेंडर
24 October 2016
ललिता सुसाइड केस में दिल्ली पुलिस ने आरोपी पति और नेशनल कबड्डी प्लेयर रोहित चिल्लर को मुंबई से अरेस्ट कर लिया है। सुसाइड के 4 दिन बाद ससुर ने भी शुक्रवार को नांगलोई थाने में सरेंडर कर दिया। रोहित और उसके पेरेंट्स के खिलाफ दहेज एक्ट में केस दर्ज हुआ है। बता दें कि ललिता ने बीते सोमवार को फांसी लगाने से पहले एक वीडियो मैसेज छोड़ा था, जिसमें ससुराल वालों पर फिजिकली और मेंटली टॉर्चर करने के आरोप लगाए थे। रोहित ने कहा- बस इंसाफ के लिए जिंदा हूं... - रोहित ने फेसबुक पर वीडियो पोस्ट कर सफाई दी है। कहा, ''यकीन नहीं हो रहा कि मेरी बाबरी (पत्नी) मुझे छोड़ कर चली गई। पता नहीं, उसने इतना बड़ा कदम क्यों उठाया। हमने जीने-मरने की कसमें खाई थीं।'' - ''आखिरी बार उसका चेहरा भी नहीं देख पाया। मुझे ड्यूटी से छुट्टी नहीं मिली, जाने नहीं दिया गया। मैंने कभी दहेज नहीं मांगा और यकीन है कि मेरी बाबरी ने भी ऐसा कुछ नही कहा होगा।'' - ''ललिता के पिता को भी यकीन है कि मैंने कभी दहेज की मांग नहीं की। अपनी लाइफ में खुश था। घर में 4 मेंबर थे। मम्मी-पापा, मैं और बाबरी। मैं भागा नहीं हूं, ड्यूटी पर हूं।''



आरोपों में 1% भी सच्चाई हुई तो राजनीति छोड़ दूंगा, हनीट्रैप में घिरे वरुण गांधी ने कहा
22 October 2016
यूपी के सुल्तानपुर से बीजेपी सांसद वरुण गांधी पर डिफेंस इन्फॉर्मेशन लीक करने का आरोप लगा है। स्कॉर्पीन पनडुब्बी मामले में व्हिसलब्लोअर एडमंड्स एलन ने पीएमओ को एक चिट्ठी लिखी है कि आर्म्स डीलर अभिषेक वर्मा ने वरुण को हनीट्रैप में फंसाकर खुफिया जानकारियां हासिल की। हालांकि, वरुण ने इन आरोपों को बेतुका बताया है। उन्होंने कहा- 'आरोप हास्यास्पद हैं, अगर इनमें 1% भी सच्चाई हुई तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा। इस बात के जरा भी सबूत नहीं हैं कि मैंने वर्मा से सेंसिटिव इन्फॉर्मेशन शेयर की थी।' उधर, वर्मा ने भी संबंधित ईमेल और तस्वीरों को मनगढ़ंत करार दिया है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में किसने किया खुलासा, जारी हुई चिट्ठी... - स्वराज अभियान के नेता प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव ने बीते गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक चिट्ठी जारी की थी। यह 16 सितंबर को लिखी गई थी। - इसमें बताया गया है कि संवेदनशील जानकारी लेने के लिए वर्मा डिफेंस कंसल्टेटिव कमेटी के मेंबर वरुण गांधी को ब्लैकमेल कर रहे हैं। - भूषण ने बताया कि एलन ने सबूत के तौर पर दर्जनों फोटोग्राफ्स और सीडी पीएमओ के पास भेजी हैं। - उन्होंने वर्मा के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग भी की।



4 टियर जीएसटी रेट स्ट्रक्चर: केंद्र का प्रपोजल लागू हुआ तो रसोई की चीजें हो जाएंगी महंगी
21 October 2016
अप्रैल 2017 से लागू होने वाले जीएसटी (गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स) के लिए केंद्र सरकार ने 4 लेयर में रेट स्ट्रक्चर बनाया है। राज्यों के साथ हुई मीटिंग में ये 4 लेयर तय हुए हैं। इसमें सबसे कम रेट 6%, जबकि सबसे ऊंचा रेट 26% है। 12 और 18% के दो स्टैंडर्ड रेट भी रखे गए हैं। अगर ये प्रपोजल अमल में आता है तो आम आदमी की रसोई में काम आने वाले खाद्य तेल, मसाले जैसे सामान महंगे हो जाएंगे।कौन सी चीजें होंगी सस्ती... - केंद्र का प्रपोजल अमल में आने के बाद परफ्यूम, टीवी, फ्रिज, एसी जैसी लग्जरी चीजें सस्ती हो जाएंगी। - फाइनेंस मिनिस्टर जेटली और राज्यों के फाइनेंस मिनिस्टर वाली जीएसटी काउंसिल अगले महीने कर की दर पर अहम फैसला लेगी। - जेटली ने कहा है- जीएसटी के तहत 4 लेयर टैक्स का ढांचा ऐसे डिजाइन किया गया है कि न तो रेवेन्यु का नुकसान हो और न ही आम आदमी की कर देनदारी में बड़ी बढ़ोतरी हो। - जीएसटी में विभिन्न वस्तुओं को उनके नजदीकी दर वाले वर्ग में रखा जाएगा।- नई रेजिमेंट बनाने और ब्रह्मोस तैनात करने में एक साल का वक्त लग सकता है।


24 साल कांग्रेस में रहीं UP की नेता रीता बहुगुणा जाेशी BJP में शामिल
20 October 2016
कांग्रेस नेता रीता बहुगुणा जोशी गुरुवार को बीजेपी में शामिल हो गईं। राजधानी में अमित शाह की मौजूदगी में उन्होंने बीजेपी ज्वाइन की। रीता ने कहा- ''राहुल का नेतृत्व कांग्रेस में किसी भी बड़े नेता को मंजूर नहीं है। आतंकवाद के खिलाफ मोदीजी और उनकी सरकार ने सराहनीय कदम उठाया है। लेकिन इस पर खून की दलाली और अगर-मगर की खबरें आईं तो मुझे बहुत दुख हुआ।'' बता दें कि रीता ने अपने राजनीतिक करियर के 27 में से 24 साल कांग्रेस में बिताए थे। उनके पार्टी छोड़ने पर कांग्रेस नेता राज बब्बर ने कहा- ये उनके परिवार का इतिहास रहा है। हो सकता है अगले चुनाव में किसी और पार्टी के साथ जुड़ जाएं। रीता ने कहा- जनता के बीच कांग्रेस की साख खत्म हो गई है... - बीजेपी में शामिल होने के बाद रीता बहुगुणा ने कहा, 'यूपी में जातिवाद की राजनीति चल रही है। दो दलों से यूपी को मुक्त कराना है।' - 'कांग्रेस को इलेक्शन स्ट्रैटजिस्ट प्रशांत किशोर का सहारा लेना पड़ रहा है। प्रोग्राम के एक दिन पहले नेताओं को पता चलता है।' - 'मैंने 40 साल तक संघर्ष किया। जनता के बीच कांग्रेस की साख खत्म हो गई है। हमारी पार्टी के बड़े नेता राहुल की लीडरशिप को स्वीकार नहीं करते हैं।' - 'अमित शाह से मेरी मुलाकात चंद दिन पहले हुई। मैंने सोच समझकर फैसला लिया है। यूपी को बदहाली से निकालने के लिए बीजेपी में आई हूं।'


JNU में 24 घंटे बाद दफ्तर से बाहर निकल सके VC, लापता स्टूडेंट को तलाशेगी SIT
20 October 2016
जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के वाइस चांसलर प्रोफेसर एम. जगदीश समेत सभी अॉफिसर्स को 24 घंटे बाद स्टूडेंट्स ने छोड़ दिया। बता दें कि 5 दिन से लापता स्टूडेंट नजीब अहमद का कोई सुराग नहीं लग सका है। इससे बुधवार दोपहर करीब ढाई बजे स्टूडेंट भड़क गए। करीब 200 स्टूडेंट्स ने एडमिनिस्ट्रेटिव बिल्डिंग का घेराव किया। वाइस चांसलर, रेक्टर, प्रॉक्टर और रजिस्ट्रार समेत कई अफसरों को बंधक बना लिया था। वीसी ने सुबह बयान में बताया था कि बंधक बनाए गए सभी अफसरों को रातभर खाना-पानी नहीं दिया गया। सभी फर्श पर सोए। उन्हें पत्नियों से भी नहीं मिलने दिया गया। देर रात होम मिनिस्टर राजनाथ सिंह ने पुलिस कमिश्नर आलोक वर्मा से फोन पर पूरे मामले की जानकारी ली थी। एसआईटी तलाशेगी नजीब को... - तय किया गया है कि अब लापता स्टूडेंट नजीब अहमद की तलाश एसआईटी करेगी। - बता दें कि विरोध कर रहे स्टूडेंट्स नहीं माने तो वीसी प्रोफेसर एम. जगदीश ने देर रात उनसे शांति बनाए रखने की अपील की थी।



SC के 7 जजों की बेंच तय करेगी हिंदुत्व धर्म है या जीवन शैली,
20 October 2016
.हिंदुत्व जीवन शैली है या धर्म? इसे तय करने के लिए मंगलवार को सुप्रीम काेर्ट में सुनवाई शुरू हुई। सुप्रीम काेर्ट यह भी तय करेगा कि इस आधार पर वोट मांगना कितना सही या गलत है। मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर की अध्यक्षता वाली 7 जजों की कॉन्स्टि्टियूशन बेंच कर रही है। अभी इसमें केंद्र को पार्टी नहीं बनाया गया है। 1996 के फैसले से जुड़ा है मामला... - 1992 के महाराष्ट्र चुनाव में मनोहर जोशी ने कहा था कि वे महाराष्ट्र को पहला हिंदू राज्य बनाएंगे। मामला कोर्ट पहुंचा। - 1995 में बाॅम्बे हाईकोर्ट ने चुनाव कैंसल कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट में इसे चुनौती दी गई। कोर्ट ने 1996 में फैसला दिया कि हिंदुत्व ‘वे ऑफ लाइफ’ यानी जीवन शैली है। - इसे हिंदू धर्म से नहीं जोड़ा जा सकता। इसलिए हिंदुत्व के नाम पर वोट मांगना रिप्रेजेंटेशन ऑफ पीपुल्स एक्ट के तहत करप्ट प्रैक्टिस नहीं है। - तब से इस मसले में सुप्रीम कोर्ट में तीन चुनावी याचिकाएं लंबित हैं। 20 साल बाद इस पर सुनवाई शुरू हुई है।



स्मृति को नहीं होगा समन, कोर्ट बोला- परेशान करने के लिए लगी पिटीशन
19 October 2016
फर्जी डिग्री विवाद में स्मृति ईरानी को मंगलवार को दिल्ली की एक कोर्ट से राहत मिल गई। कोर्ट ने उनके खिलाफ दाखिल एक पिटीशन खारिज कर दी। कोर्ट ने कहा कि वे केन्द्रीय मंत्री हैं, इसलिए यह पीटिशन उन्हें बेवजह परेशान करने के लिए दायर की गई है। इसमें स्मृति को समन जारी करने की मांग की गई थी। इससे पहले चुनाव आयोग ने स्मृति की एजुकेशनल क्वालिफिकेशन से जुड़े रिकॉर्ड सीलबंद लिफाफे में कोर्ट को दिए थे। मैट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट हरविंदर सिंह ने फैसला सुरक्षित रख लिया था। अगर एफिडेविट में दी गई जानकारियां गलत साबित हुईं तो धारा 125A के तहत कोर्ट झूठा हलफनामा देने पर जुर्माना, 6 महीने की कैद या दोनों तरह की सजा सुना सकता है। ये आरोप हैं शिकायतकर्ता के... - खान का आरोप था कि स्मृति ने 2004, 2011 और 2014 में चुनाव आयोग में दाखिल हलफनामों में अपनी एजुकेशन क्वालिफिकेशन के बारे में गलत जानकारी दी थी। सवाल उठाए जाने के बावजूद उन्होंने इस पर कोई सफाई नहीं दी। - खान के वकील ने कोर्ट को बताया था कि स्मृति ने 2004 के लोकसभा इलेक्शन में अपनी क्वालिफिकेशन दिल्ली यूनिवर्सिटी (स्कूल ऑफ कॉरेसपॉन्डेंस) से 1996 में बीए बताई थी।



हिंदू सेना ने किया हिलेरी के खिलाफ प्रोटेस्ट, लगाया ट्रंप की इमेज खराब करने का आरोप
18 October 2016
अमेरिकी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप का जन्मदिन मनाने वाले संगठन हिंदू सेना ने मंगलवार को हिलेरी क्लिंटन का फूंका है। हिंदू सेना का आरोप है कि डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन अपने राजनीतिक फायदे के लिए ट्रंप की इमेज बर्बाद करने पर तुली है। हिंदू सेना ने किया प्रोटेस्ट... -bhaskar.com को हिंदू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु गुप्ता ने कहा, हिलेरी अपने राजनीतिक फायदे के लिए ट्रंप पर मनगढ़ंत आरोप लगवा रही है। -हिंदू सेना का कहना है कि हिलेरी डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार हैं और डेमोक्रेटिक पार्टी ने पाकिस्तान द्वारा भारत के खिलाफ चलाए जा रहे आतंकवाद के खिलाफ कोई स्टैंड नहीं लिया है चाहे 26/11 का मुंबई अटैक का मामला हो या फिर पठानकोट एयरबेस का अटैक का। -विष्णु गुप्ता ने कहा कि ट्रंप साफ तौर पर कहा है कि वह भारत के साथ दोस्ती और व्यापार को बढ़ावा देंगे। भारत के पक्ष में यही है ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति बने।


दिल्ली में बाइक सवार को बचाने में डिवाइडर पर चढ़ी तेज रफ्तार कार
18 October 2016
आईटीओ के पास सोमवार तड़के कार एक्सीडेंट में 2 लोगों की मौत हो गई जबकि तीन घायल हो गए। हादसे का शिकार हुई कार में कुल 5 दोस्त सवार थे। सभी दोस्त की शादी में शामिल होने के लिए हरियाणा से आए थे। पांचों दोस्तों की उम्र 20-25 साल के बीच है।सभी बाइक सवार को बचाने में हादसा... - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रेड लाइट पर अचानक एक बाइक सवार के सामने आ जाने पर कार ड्राइवर ने कंट्रोल को खो दिया। - तेज रफ्तार में कार पहले डिवाइडर पर चढ़ी। फिर दो से तीन बार पलटी और एक स्ट्रीट लाइट के पोल से जा टकराई। - पुलिस ने बताया कि कार चला रहे कशिश आनंद और आयुषी गुलाटी की मौत हो गई। आनंद के पेरेंट्स की मौत भी कुछ समय पहले हुई थी। -उत्तराखंड निवासी आयुषी चंडीगढ़ में पढ़ाई कर रही थी और वहीं जॉब भी कर रही थी। - एक चश्मदीद कहा, '‘बाइक सवार कार को ओवरटेक करने की कोशिश कर रहा था। कुछ लोगों ने 4 लड़कों को बाहर निकाला लिया, लेकिन एक को गैस कटर का इस्तेमाल कर निकाला।’'


करवा चौथ की तैयारियों में जुटी पत्नी पर पति ने फेंका तेजाब
17 October 2016
करवा चौथ से एक दिन पहले एक पति ने अपनी पत्नी पर तेजाब फेंक दिया। उस वक्त वह ब्यूटी पार्लर से लौट रही थी। मामला रोहणी इलाके का है। पत्नी को इलाज के बाद हॉस्पिटल से छुट्टी दे दी गई है। हालांकि, तेजाब से पति ज्यादा झुलसा है। उसका इलाज चल रहा है। दोनों ने की थी लव मैरिज... - अमनप्रीत और सन्नी ने लव मैरिज की थी। दोनों के बीच कुछ दिनों से अनबन चल रही थी, लिहाजा अमनप्रीत मायके आ गई थी। - मंगलवार को अमनप्रीत करवा चौथ की तैयारियों में जुटी थी और ब्यूटी पार्लर से घर लौट रही थी। उसके साथ उसकी छोटी बहन भी थी। - रास्ते में सन्नी मिला। उसके साथ दो लोग और थे। वह अमनप्रीत को पार्क में ले गया। वहां दोनों के बीच कहासुनी हो गई। - आरोप है कि सन्नी ने पहले तो अमनप्रीत को बुरी तरह पीटा, फिर तेजाब तेजाब डाल दिया। इस दौरान सन्नी भी तेजाब से झुलस गया। - घायल अमनप्रीत और सन्नी को अस्पताल ले जाया गया। इलाज के बाद उसे छुट्टी दे दी गई है। उसके पति का इलाज चल रहा है।



नेशनल कबड्डी प्लेयर की पत्नी ने सुसाइड से पहले बनाया था दो घंटे का वीडियो
17 October 2016
नेशनल कबड्डी प्लेयर रोहित चिल्लर की पत्नी ललिता ने सोमवार को खुदकुशी से पहले दो घंटे लंबा वीडियो बनाया था। पुलिस के मुताबिक, वीडियो में ललिता ने ससुराल वालों पर दहेज के लिए मेंटल और फिजिकल टॉर्चर के आरोप लगाए हैं। ललिता ने पिता के घर सुसाइड किया था और एक नोट भी छोड़ा था। इसमें लिखा- ''रोहित ने मुझे बहुत परेशान किया, दुख दिया। वो कहता था कि मेरी खुशी के लिए जिंदगी से चली जाओ।'' दहेज की वजह से ही टूटी थी पहली शादी.. - पुलिस के मुताबिक, ललिता डिप्रेशन में थी, क्योंकि उसकी पहली शादी भी दहेज की वजह से ही टूटी थी। रोहित और ललिता की मुलाकात कॉलेज में हुई थी। रोहित से फिलहाल पुलिस पूछताछ नहीं कर सकी है। ोनों की शादी इसी साल मार्च में हुई थी। सुसाइड नोट में ललिता (27) ने लिखा है कि पति और ससुराल वाले उसके साथ मारपीट करते थे। मजिस्ट्रेट के सामने बयान के बाद आगे की कार्रवाई होगी।''



मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा, यूनीफॉर्म सिविल कोड देश के लिए सही नहीं
13 October 2016
नई दिल्ली।मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (MPLB) ने यूनीफॉर्म सिविल कोड का विरोध किया है। बोर्ड का कहना है कि यूनीफॉर्म सिविल कोड देश के लिए सही नहीं है, हमारे देश में बहुत से कल्चर हैं जिन्हें सम्मान दिया जाना चाहिए। लॉ कमिश्न के सवालनामे का विरोध... -MPLB ने कहा, ' अमेरिका में हर कोई अपनी पहचान और अपने पर्सनल लॉ का पालन करता है, इस मामले में हमारा देश कैसे उन्हें फॉलो नहीं करता। -बोर्ड ने कहा, 'हम इस देश में संविधान द्वारा तय एक एग्रीमेंट के तहत रहते हैं। संविधान ने हमें जिंदगी देने और अपने धर्म का पालन करने का हक दिया है। ' -मुस्लमानों ने भारत की आजादी की लड़ाई में बराबर योगदान दिया है लेकिन उनके योगदान को हमेशा कम करके आंका गया है। -मुल्क की तमाम कम्युनिटी को और धर्मों को मानने वालों को एक लाठी से हांकने की कोशिश गलत है, यह देश की शांति के खिलाफ है। -बोर्ड ने कहा कि लॉ कमिशन के सवालनामे का बॉयकॉट करेंगे और इसमें शामिल नहीं होंगे. उनका आरोप है कि इसे निष्पक्ष होकर तैयार नहीं किया गया है।



LG ने दो नए पुलिस जिलों मंजूरी दी
13 October 2016
नई दिल्ली। नेशनल केपिटल में लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति को मजबूत करने के लिए LG नजीब जंग ने दो नए पुलिस जिले स्थापित करने के प्रपोजल को मंजूरी दे दी है। दिल्ली में अब पुलिस जिलों की संख्या 13 हो जाएगी । इस हफ्ते के आखिर तक बन जाएंगे नए जिले... -अधिकारियों ने बताया कि LG ने दो नए जिलों - रोहिणी आौर शाहदरा को परमिशन दे दी है और इनके इस हफ्ते के आखिर तक गठन की संभावना है। -बाहरी जिले का नाम रोहिणी जिला किया जाएगा और नया बाहरी जिला उन इलाकों के साथ बनाया जाएगा जो बाहरी, वेस्ट और साउथ-वेस्ट दिल्ली का हिस्सा थे। -शाहदरा पूरी तरह से नया जिला होगा। इसमें विवेक विहार, कृष्णा नगर और मानसरोवर पार्क जैसे ईस्ट और नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली के इलाके होंगे। -अधिकारियों ने कहा कि साउथ और साउथ वेस्ट दिल्ली से भी नए जिले बनाए जा सकते हैं क्योंकि वे एरिया में काफी बड़े हैं।’


4 दिन तक पत्नी की लाश के साथ घर में रहा बुजुर्ग, पुलिस से कहा
13 October 2016
.90 साल का एक बुजुर्ग पत्नी की लाश के साथ कालकाजी इलाके के घर में 4 दिन से रह रहा था। बुजुर्ग ने पड़ोसियों को मदद के लिए बुलाया, तब मामले का खुलासा हुआ। जब पुलिस घर में दाखिल हुई तो बुजुर्ग ने अफसरों से शांत रहने के लिए कहा ताकि पत्नी उठ न जाए। पत्नी की लाश उठाने पर भी वह गुस्सा हो गया। मानसिक रूप से बीमार है बुजुर्ग... - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बुजुर्ग शख्स का नाम गोविंद राम जेठानी है। वह पत्नी गोपी (85) के साथ एक कमरे के घर में रहता था। उनकी कोई औलाद नहीं थी। - पुलिस का कहना है कि जेठानी की पत्नी की मौत की वजह पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद ही पता चल पाएगी। हालांकि, पड़ोसियों का कहना है कि भूख की वजह से उनकी मौत से हुई। - एक सीनियर अफसर ने बताया कि जेठानी की मानसिक हालत ठीक नहीं है। दोनों ने कुछ महीनों से पड़ोसियों से मिलना-जुलना छोड़ दिया था। हर वक्त खिड़की-दरवाजे बंद रखते थे। - जेठानी एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी कर 30 साल पहले रिटायर हो गए थे। अब वे अपनी पोस्ट ऑफिस सेविंग्स पर डिपेंड थे। उनकी आर्थिक हालत ठीक नहीं थी।


दिल्ली एयरपोर्ट पर संदिग्ध रेडियोएक्टिव पदार्थ लीक, अफसरों ने कहा
12 October 2016
आईजीआई एयरपोर्ट के टर्मिनल 3 पर संदिग्ध रेडियोएक्टिव पदार्थ लीक होने के बाद फिलहाल हालात काबू में है। अफसरों ने कहा कि नेशनल डिजास्टर मैंनेजमेंट अथॉरिटी ने जांच के बाद यहां किसी तरह के खतरे से इनकार किया है। कार्गो एरिया में लीक हुआ पदार्थ कम रेडियोएक्टिव है, जो कैंसर मरीजों की थैरिपी में इस्तेमाल होता है।रेडियोएक्टिव पदार्थ वाले मेडिकल इक्विपमेंट एयर फ्रांस के जरिए पेरिस से मंगाए गए थे। जांच के लिए भेजा गया सैंपल... - एटॉमिक एनर्जी रेग्युलेटरी बोर्ड (AERB) के अफसरों ने बताया कि ये पदार्थ एक बॉक्स में से लीक हुआ। इसके रेडियोएक्टिव होने का शक है, फिलहाल सैंपल जांच के लिए भेजा गया है। - चीफ फायर अफसर अतुल गर्ग ने कहा- "सुबह करीब 11 बजे रेडियोएक्टिव पदार्थ लीक होने की खबर मिली। यह इक्विपमेंट एयर फ्रांस से आया था, जिसे कार्गो एरिया में रखा गया था।'' - ''खबर मिलते ही NDMA और फायर ब्रिगेड की टीम मौके पर पहुंची और मोर्चा संभाल लिया। एहतियातन इलाके को खाली कराया, 7 फायर टेंडर मौके पर थीं।" - "हालांकि एयरपोर्ट अथॉरिटी और एयरलाइन्स की ओर से कोई एक्शन नहीं लिया गया है।''



मेट्रो स्टेशनों पर CISF ने सिक्योरिटी बढ़ाई, फेस्टिव सीजन को देखते हुए लिया फैसला
12 October 2016
दिल्ली के तमाम मेट्रो स्टेशनों का सिक्योरिटी कवर फेस्टिव सीजन के मद्देनजर बढ़ा दिया गया है जबकि CISF ने मेट्रो रेल सिस्टम को नुकसान पहुंचाने या किसी भी आतंकवादी कोशिश को लेकर अपने कर्मियों को अलर्ट कर दिया है। मेट्रो सिक्योरिटी के रिव्यू के बाद लिया गया फैसला... -यह फैसला सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी फोर्स (CISF) के अधिकारियों द्वारा दिल्ली मेट्रो की सिक्योरिटी के हाई लेवल रिव्यू के बाद किया गया। -अधिकारियों ने बताया कि एनसीआर में 150 से ज्यादा स्टेशनों की सिक्योरिटी और बढ़ाने के लिए संवेदनशील स्टेशनों पर CISF अपनी कमांडो टीमों, बम निरोधक दस्ते और स्वान दस्ते की मौजूदगी बढ़ाएगा जो कि खतरे की अवधारणा पर आधारित होगा। -सूत्रों ने कहा, आने वाले फेस्टिव सीजन के मद्देनजर दिल्ली मेट्रो के सभी महत्वपूर्ण सुरक्षा घटकों जैसे बम खोजी दस्ते, श्वान दस्ते, सशस्त्र संरक्षण, त्वरित कार्रवाई दल, महिला कमांडो समूह, इलेक्ट्रानिक निगरानी और अतिरिक्त दलों के कामकाज का रिव्यू किया गया है। -सूत्रों ने बताया कि CISF ने दिल्ली पुलिस और डीएमआरसी के साथ सुरक्षा कदमों को अपडेट करने के बारे में चर्चा की है।


विजयदशमी पर दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के बाद यमुना बदहाल,
12 October 2016
नवरात्रि के बाद मंगलवार को विजयदशमी के दिन राजधानी में यमुना के करीब सात घाटों पर मां दुर्गा की सैकड़ों प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया। प्रतिमा विसर्जन के बाद से यमुना का बुरा हाल देखने को मिला। कहीं लकड़ी के टुकड़े, मिट्टी के टूटे हुए बर्तन, मां की प्रतिमाओं पर चढ़ाई गईं लाल और हरे रंग की चुन्नियां तो कहीं शीशे का कवर चढ़े चित्र यमुना के जल को प्रदूषित कर रहे हैं। हालांकि, प्रशासन ने सुध लेते हुए दोपहर के समय सफाई अभियान भी चलाया। इस दौरान क्रेन से यमुना में फैली गंदगी को निकाला गया।


राम रहीम का केजरी को जवाब, कहा सवाल उठाने वालों को अगली सर्जिकल स्ट्राइक में आगे रखा जाए
6 October 2016
अपनी आने वाली फिल्म के प्रीमियर शो के लिए दिल्ली आए डेरा सच्चा सौदा के चीफ गुरमीत राम रहीम ने भारतीय सेना द्वारा किए गए सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाने वालों पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा, कि जो लोग सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठा रहे हैं, मेरा सेना से निवेदन है कि अगली बार जब भी ऐसा कोई ऑपरेशन किया जाए तो ऐसे लोगों को आगे कर दिया जाए। हजारों फोलोअर्स के बीच हुआ राम रहीम की फिल्म का प्रीमियर... -इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में बाबा राम रहीम की इस शुक्रवार रिलीज होने वाली फिल्म MSG The Warrior Lion Heart का प्रीमियर शो रखा गया था। -स्टेडियम में बाबा के हजारों फोलोअर्स मौजूद थे। इस मौके पर फिल्म की डायरेक्टर और बाबा राम रहीम की बेटी हनीप्रीत भी मौजूद थी। -इस दौरान मीडिया से बात करते हुए राम रहीम ने सेना के सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाने वालों को आड़े हाथों लिया। -उन्होंने केजरीवाल और संजय निरुपम का बिना नाम लिए कहा, 'मेरा सेना से निवेदन है कि अगली बार जब भी ऐसा कोई ऑपरेशन किया जाए तो ऐसे लोगों को आगे कर दिया जाए।'



मोदी ने बुलाई CCS बैठक, सर्जिकल स्ट्राइक के बाद उपजे हालात पर हुई चर्चा
6 October 2016
पीएम नरेंद्र मोदी ने LOC के पार टेरेरिस्ट ठिकानों पर सर्जिकल अटैक के मद्देनजर सिक्योरिटी पर चर्चा करने के लिए सुरक्षा मामलों पर कैबिनेट की कमेटी (CCS) की आज अध्यक्षता की। सूत्रों के मुताबिक मीटिंग में LOC और इंटरनेशनल बॉर्डर के साथ-साथ अंदरूनी इलाकों में हालात के बारे में जानकारी दी गई। लाइन ऑफ कंट्रोल के पार से बढ़ी से फायरिंग - LOC के पास टेरेरिस्ट ठिकानों पर 28 और 29 सितंबर की दरम्यानी रात को किए गए सर्जिकल अटैक के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया है। -सर्जिकल अटैक के बाद से पाकिस्तान ने LOC के पार से फायरिंग बढ़ा दी है। कब हुआ था सर्जिकल स्ट्राइक? - 18 सितंबर को उड़ी में सीमा पार से आए 4 आतंकियों ने आर्मी हेडक्वार्टर पर हमला किया था, जिसमें 19 जवान शहीद हुए थे। - हमले के 10 दिन बाद (28 सितंबर की रात) आर्मी के स्पेशल फोर्स के 125 कमांडो हेलिकॉप्टर से एलओसी के पास उतारे गए। - कमांडो रेंगते हुए PoK में घुसे और 4 इलाकों में आतंकियों के 7 कैम्प तबाह कर दिए। इस दौरान 38 आतंकी मारे गए।


केजरीवाल के मंत्री ने महबूबा मुफ्ती से पूछा- बुरहान वानी आतंकी था या नहीं
5 October 2016
दिल्ली सरकार में मंत्री कपिल मिश्रा ने मंगलवार को टूरिज्म मिनिस्ट्री के एक प्रोग्राम में जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती से पूछा- बुरहान वानी को आतंकी मानती हैं या नहीं। कपिल ने इसके बाद भी कई सवाल पूछे? मुफ्ती जब बोलने खड़ी हुईं तो रो पड़ीं। इस दौरान काफी हंगामा हुआ। क्या है मामला... - मंगलवार को दिल्ली के प्रगति मैदान में टूरिज्म वेलफेयर प्रोग्राम चल रहा था। केजरीवाल के मंत्री कपिल मिश्रा और जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती भी मौजूद थे। - कपिल बोलने खड़े हुए तो उन्होंने महबूबा से कुछ सवाल किए। उन्होंने पूछा- आप बुरहान वानी को आतंकी मानती हैं या नहीं? अफजल गुरू को क्या मानती हैं? जेएनयू में नारेबाजी करने वालों को क्या कहेंगी? भारत माता की जय के नारे लगाने के मसले पर आपका क्या कहना है? - मिश्रा के सवालों के बाद प्रोग्राम में हंगामा हो शुरू हो गया। इसके बाद भी कपिल शांत नहीं हुए। उन्होंने कहा- महबूबा यहां आईं हैं तो उन्हें इन सवालों के जवाब तो देने ही पड़ेंगे। - बता दें कि बुरहान वानी हिजबुल मुजाहिदीन का कमांडर था। वो 8 जुलाई को एनकाउंटर में मारा गया था। इसके बाद कश्मीर में हिंसा शुरू हुई। इसमें 88 लोग मारे जा चुके हैं। वानी को पाकिस्तान के पीएम नवाज शरीफ ने शहीद बताया था। संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरू को फांसी दी जा चुकी है।।


संजय निरुपम ने सर्जिकल स्ट्राइक को बताया फर्जी, कांग्रेस ने कहा- नेता बयानबाजी न करें
4 October 2016
कांग्रेस के दो बड़े नेताओं ने सर्जिकल स्ट्राइक पर बयान दिए हैं। संजय निरुपम ने कहा, “हर भारतीय चाहता है कि पाकिस्तान के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक हो, लेकिन फर्जी नहीं, जैसा कि बीजेपी ने सियासी फायदे के लिए किया है।” दिग्विजय सिंह ने कहा- सेना की विश्वसनीयता प्रभावित हो रही है। सरकार सबूत दे। इसके बाद कांग्रेस स्पोक्सपर्सन रणदीप सुरजेवाला ने ऑफिशियल स्टेटमेंट जारी कर कहा, “हमें सेना पर पूरा भरोसा है। ये न तो पहला सर्जिकल स्ट्राइक था और न ये आखिरी होगा। नेता राजनीतिक बयानबाजी न करें।'' केजरीवाल सबूत मांगने पर अड़े... - सर्जिकल स्ट्राइक पर सोमवार को पीएम मोदी से सबूत मांगने वाले अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को भी बयान दोहराया। - केजरीवाल ने कहा, ''पहले मेरा पूरा वीडियो देखें। मैंने पीएम को सैल्यूट किया। सपोर्ट किया, सेना को बधाई दी। हम सब जानते हैं पाकिस्तान झूठा प्रचार कर रहा है, पूरी दुनिया के अखबारों में यही चल रहा है कि सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हुआ, गलत क्या बोला?'' - “मैं राजनीति नहीं कर रहा हूं। अगर मैंने कहा कि पाकिस्तान को जवाब देना है तो बीजेपी इतनी बौखलाई क्यों हैं?" - बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद ने केजरीवाल के बयान पर सवाल उठाते हुए कहा- "केजरीवाल को सेना के सर्जिकल स्ट्राइक करने की बहादुरी पर भरोसा है या नहीं?



हार गईं थीं असेंबली इलेक्शन, महाभारत की 'द्रौपदी' अब पहुंची राज्यसभा
4 October 2016
टीवी सीरियल महाभारत में द्रौपदी का रोल करने वाली एक्ट्रेस और बीजेपी लीडर रूपा गांगुली को राज्यसभा के लिए मनोनीत किया गया है। नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे के बाद खाली हुई सीट पर उन्हें चुना गया। गांगुली इसी साल भाजपा के टिकट पर पश्चिम बंगाल में असेंबली चुनाव भी लड़ी थीं। किससे चुनाव हारी थीं महाभारत की 'द्रौपदी'... - इस साल पश्चिम बंगाल असेंबली चुनाव में रूपा गांगुली बतौर भाजपा उम्‍मीदवार अपना पहला चुनाव हार गई थीं। - उन्‍हें ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस से चुनाव लड़ रहे क्रिकेटर लक्ष्‍मी रतन शुक्‍ला ने हावड़ा उत्‍तर सीट से हराया था। - बता दें कि रूपा गांगुली ने पिछले साल 2015 में बीजेपी में शामिल हुई थीं। - अप्रैल में बंगाल चुनाव की वोटिंग के दौरान रूपा कैमरे पर तृणमूल कांग्रेस की महिला समर्थक को थप्‍पड़ मारते पकड़ी गई थीं। - उसके बाद अगले महीने कथित तौर तृणमूल समर्थकों ने कोलकाता के पास उनपर हमला किया, जिसमें उनके सिर पर चोटें आई थीं।


SurgicalStrike पर केजरी का मोदी को सैल्यूट, कहा- अब PAK के झूठ का जवाब दें
3 October 2016
पीओके में पहली बार सर्जिकल स्ट्राइक के बाद नरेंद्र मोदी के धुर विरोधी भी उनकी तारीफ करने से पीछे नहीं हैं। राहुल गांधी के बाद अब अरविंद केजरीवाल ने वीडियो मैसेज जारी कर सोमवार को पीएम की तारीफ की। केजरीवाल ने कहा, ''मोदी के साथ मेरे कई मुद्दों पर मतभेद हैं, लेकिन आर्मी के सर्जिकल स्ट्राइक के लिए मैं उन्हें सैल्यूट करता हूं।'' केजरीवाल ने और क्या कहा... - केजरीवाल ने कहा, ''जय हिंद साथियो, कुछ दिन पहले बॉर्डर पर हमारे 19 जवान शहीद हो गए थे।'' - ''लेकिन पिछले हफ्ते हमारी सेना ने बहादुरी के साथ इसका बदला ले लिया। पाक के अंदर घुसकर आतंकवादी कैंपों पर सर्जिकल स्ट्राइक किया।'' - ''मेरे अपने, पीएम के साथ 100 मसलों पर मतभेद हो सकते हैं, लेकिन इस मुद्दे पर पीएम ने जो इच्छाशक्ति दिखाई, उसके लिए मैं उन्हें सैल्यूट करता हूं।'' 'PAK के झूठे कैम्पेन का जवाब दें मोदी' - केजरीवाल ने आगे कहा, ''जब से सर्जिकल स्ट्राइक हुआ है, पाकिस्तान बुरी तरह से बौखला गया है। वे अब गंदी राजनीति पर उतर आए हैं।'' - ''पिछले दिनों इंटरनेशनल जर्नलिस्ट्स को बॉर्डर पर ले जाकर यह दिखाने की कोशिश हो रही है कि देखो, सर्जिकल स्ट्राइक तो हुआ ही नहीं है।''


नकली सिक्कों की फैक्ट्री पकड़ाई, क्या आप जानते हैं सिक्कों की असलियत?
3 October 2016
जाली नोटों के कई रैकेट के बारे में आपने सुना होगा। लेकिन अब दिल्ली में फर्जीवाड़े की ऐसी फैक्ट्री का खुलासा हुआ। जहां 5-10 रुपए के सिक्के नकली सिक्के बनाकर देश की अर्थव्यवस्था को चूना लगाया जा रहा था। पुलिस ने बताया कि जाली सिक्कों का रैकेट खास प्लानिंग के तहत चल रहा था। सिक्के तैयार करने के बाद इन्हें एजेंट्स के जरिए नॉर्थ इंडिया के अलग-अलग राज्यों में खपाया जाता है। दो महीने पहले हरियाणा में 5 रु. के 6,500 जाली सिक्के पकड़े गए थे। ऐसे खुला नकली सिक्कों का राज... - डीसीपी एमएन तिवारी ने बताया कि नकली सिक्कों का सप्लायर नरेश कुमार पुलिस के शिकंजे में आया। - रोहिणी में चेकिंग के दौरान उसके पास से 2 बैग मिले, जिनमें सिक्‍कों के 20-20 पैकेट रखे थे। हर पैकेट में 100 सिक्‍के थे। - नरेश ने पहले तो खुद को पंजाब नेशनल बैंक का ऑफिसर बताया, लेकिन जब उससे आईकार्ड दिखाने को कहा तो वह घबरा गया। - उससे पूछताछ में बवाना इंडस्ट्रियल एरिया में चल रही नकली सिक्कों की फैक्ट्री का पता चला। इसके बाद यहां रेड हुई। - पुलिस के मुताबिक, रैकेट के सरगना सोनू और राजू फरार हैं। सोनू मास्टरमाइंड है। हरियाणा पुलिस को भी उनकी तलाश है। - इस फैक्ट्री में लगी मशीनों से पिछले 4 महीने से 10 और 5 रुपए के नकली सिक्के बनाए जा रहे थे।



डेंगू-चिकनगुनिया : SC ने लगाया केजरीवाल के हेल्थ मिनिस्टर पर 25000 का जुर्माना
3 October 2016
नई दिल्ली।सुप्रीम कोर्ट ने डेंगू जांच में नाकाम रहने वाले अधिकारियों के बारे में हलफनामा दायर नहीं करने पर दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सत्येन्द्र जैन पर 25,000 रुपए जुर्माना लगाया। जैन ने हलफनामा दायर करने के लिए 24 घंटे का वक्त देने की मांग की तो सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जब लोग मर रहे हैं तो आपको 24 घंटे की जरूरत नहीं होनी चाहिए। बता दें कि दिल्ली में चिकनगुनिया और डेंगू मामले में सुप्रीम कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लेते हुए 26 सितंबर को दिल्ली सरकार को नोटिस जारी कर 30 सितंबर तक जवाब मांगा था।


अक्टूबर में 11 दिन बंद रहेंगे बैंक, निपटा लें जरूरी काम वर्ना हो सकती है दिक्कत
30 September 2016
अगर आप अक्टूबर में फेस्टिव सीजन का लुत्फ लेना चाहते हैं तो अपने अकाउंट्स से पैसे अभी निकाल लें, वर्ना दिक्कत हो सकती है। इस महीने बैंक 11 दिनों तक बंद रहेंगे। रविवार और त्योहारों के चलते बैंकों में छुट्टियां रहेंगी और सिर्फ 20 दिन ही कामकाज होगा। 8 से 12 अक्टूबर तक लगातार बंदी... - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 2 अक्‍टूबर को गांधी जयंती की छुट्टी होने के चलते बैंक बंद रहेंगे। हालांकि इस दिन रविवार भी है। - महीने के पहले हफ्ते में बैंक लगातार 5 दिनों (8 से 12 अक्टूबर तक) तक बंद रहेंगे। - 8 अक्टूबर को दूसरा शनिवार है और 9 अक्टूबर को रविवार है। - 10 अक्टूबर को नवमी, 11 अक्टूबर को दशहरे की छुट्टी रहेगी, जबकि 12 अक्टूबर को मुहर्रम की छुट्टी होगी। - इस तरह 5 दिनों की लंबी छुट्टी अक्टूबर में एक साथ पड़ रही है। - बता दें कि दूसरे और चौथे शनिवार को बैंक बंद रहते हैं। लेकिन पहले, तीसरे और पांचवे शनिवार को खुले रहते हैं।-


पाकिस्तान ने कहा- जंग हल नहीं, कश्मीरी अगर भारत के साथ खुश हैं तो वहीं रहें
27 September 2016
भारत में पाकिस्तान के हाई कमिश्नर अब्दुल बासित का कहना है, ''जंग कोई हल नहीं है। कश्मीरियों को फ्यूचर चुनने का मौका दो। अगर वो भारत में खुश हैं तो उन्हें वहीं रहने दो।'' इस बीच, नरेंद्र मोदी की वॉर्निंग पर पाकिस्तान भड़क गया है। इस्लामाबाद में पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने मोदी के इस बयान को गलत बताया है कि पाकिस्तान आतंकवाद का एक्सपोर्टर है। बासित ने कहा- हमें आतंकी मुल्क कहना जुमलेबाजी... - कोलकाता के अखबार 'टेलीग्राफ' को दिए इंटरव्यू में उड़ी आतंकी हमले के बारे में बासित ने कहा, ''मैं बताना चाहता हूं कि पाकिस्तान का इस हमले से कोई लेना-देना नहीं है।'' - भारत की ओर से पाकिस्तान को आतंकवादी मुल्क कहे जाने पर बासित ने कहा- "वह महज जुमलेबाजी है। हम भी ऐसे शब्दों का इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन उससे कोई मकसद हल नहीं होता। दो देशों के रिश्ते जुमलेबाजी से नहीं चलते।'



संपादकीय

मध्यप्रदेश जनसंपर्क करे संपूर्ण पारदर्शिता की पहल
उम्मीद की किरण की तरह है चौटाला पिता पुत्र को मिली सज़ा
मध्य प्रदेश में भी सुरक्षित नहीं महिलाएं
देवी को पूजने वाले देश में औरतों की आबरू सुरक्षित नहीं
अभी से करनी होगी पानी की चिंता
मोदी का कद बढ़ने से भाजपा मे घमासान
कॉमन एंट्रेंस टेस्ट के फ़ैसले ने खड़े किए कई सवाल