लाइफस्टाइल | बिजनेस | राजनीति | कैरियर व सफलता | छत्तीसगढ़ पर्यटन | स्पोर्ट्स मिरर | नियुक्तियां | वर्गीकृत | येलो पेजेस | परिणय | शापिंगप्लस | टेंडर्स निविदा | Plan Your Day Calendar

:: छत्तीसगढ़ डाइजेस्ट ::




केंद्रीय मंत्री ने कॉकपिट में बैठ खुद उड़ाई इंडिगो की फ्लाइट, पहुंचे रायपुर

28 Jun 2017
रायपुर। केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी आज पायलट की भूमिका में भी नजर आए। वे दिल्ली से रायपुर तक कॉकपिट में बैठकर आए। इस दौरान उन्होंने खुद इंडिगो एयरलाइंस की फ्लाइट को उड़ाया। ध्यान देने वाली बात है कि रूडी खुद कॉमर्शियल पायलट हैं
जानिए रायपुर क्यों आए रूडी...... ऐसा पहली बार देखा गया है जब राजीव प्रताप रूडी रायपुर आते वक्त खुद फ्लाइट उड़ाकर आए हों। - केंद्रीय कौशल विकास मंत्री रूडी नई दिल्ली से सुबह 6:45 बजे नियमित विमान उड़ाकर 8:45 बजे रायपुर पहुंचे। - एयरपोर्ट से वे सीधे अतिथि गृह 'पहुना' पहुंचे। वहां से मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के निवास पर पहुंचकर उनसे मुलाकात की। - सीएम ने केंद्रीय मंत्री का बुके देकर स्वागत किया और 11 बजे उन्हें लेकर उन्हें मंत्रालय पहुंचे। - यहां कौशल विकास की समीक्षा बैठक में दोनों लोग शामिल हुए। - जानकारी के मुताबिक रूडी शाम 6 बजे रवाना होंगे


छोटी सी बात पर नाबालिग ने लगा ली फांसी, सभी हैं हैरान, किसी को विश्वास नहीं हो रहा

27 Jun 2017
रायपुर।मात-पिता तो बच्चों को पढ़ने और होमवर्क करने के लिए अक्सर डांट-फटकार लगाते रहते हैं। वहीं शहर में एक 11 वर्षीय नाबालिग को माता-पिता का डांटना इतना नागवार गुजारा कि वो फंदे से झूल गई। इस घटना के बाद मृतका के परिजन सदमे में हैं। पुलिस को भी विश्वास ही नहीं हो रहा है कि भला इतनी छोटी सी बात के लिए कोई कैसे सुसाइड कर सकता है।
जानिए पूरी घटना.... - मामला मंदिर हसौद थाना इलाके का है। पुलिस के मुताबिक यहां रीवां गांव में रहने वाली 11 साल की बालिका को स्कूल जाने से पहले डांट पड़ी थी। - डांट की वजह थी होमवर्क का पूरा न होना। इसके बाद वो अपने कमरे में पढ़ने चली गई। कुछ देर के बाद उसकी आहट नहीं मिली तो परिजन उसके कमरे में गए। देखा तो वो पंखे में फंदा लगाकर झूल रही थी। - इसकी जानकारी पुलिस को दी गई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और लगातार पूछताछ कर रही है। - पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही ये तय होगा कि बालिका की मौत कैसे हुई है।


ले़डी ने बताई डॉक्टर की असलियत, बोली- चैकअप के बहाने की गंदी हरकत

23 Jun 2017
धमतरी। एक प्राइवेट क्लीनिक तब बवाल मच गया जब एक 24 साल की विवाहिता के साथ 70 वर्षीय सर्जन से छेड़छाड़ कर दी। पीड़िता वहां से निकलकर घर गई और परिजनों को आपबीती बता दी। परिजन थाने में पहुंचे और वहां डॉक्टर का कॉलर पकड़ महिला ने खूब खरी-खोटी सुनाई।
जानिए पूरी घटना.... - मामला धमतरी के हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी स्थित एक क्लीनिक का है। क्लीनिक जिला अस्पताल के पूर्व सर्जन डॉ. सीजी गोस्वामी का है। - यहां कांकेर के चारमा निवासी विवाहिता अपने बच्चे के साथ यहां आई थी। उसके पेट में दर्द था। - डॉ. गोस्वामी ने पहले उसे चेक किया फिर बोले कुछ और चेकअप करना है। भीतर चलना होगा। क्लीनिक भीतर ले जाकर महिला को लिटाकर उसके साथ अश्लील हरकतें करने लगे। महिला असहज हुई और विरोध किया तो भी नहीं माने। - ऐसे में वो वहां से उठी और बाहर आ गई। भाई से कहा कि चलो यहां चेकअप नहीं कराना है। - बाहर निकलकर महिला ने भाई को डॉक्टर की बदतमीजी के बारे में बताया। उसके बाद महिला ने पति को भी घटना की जानकारी दी। - पति महिला को लेकर थाने पहुंचा और डॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज कराने लगा। इधर पुलिस थाने में डॉक्टर को पकड़कर ले आई। - महिला ने थाने में ही डॉक्टर का कॉलर पकड़ लिया और उसे खूब खरी-खोटी सुनाई। डॉक्टर ने माफी मांगी। - इसके बाद आपसी समझौते से मामला शांत हो गया और महिला वहां से बिना रिपोर्ट दर्ज कराए चली गई।


CM डॉ. रमन सिंह ने किया योग, मंच पक्ष और विपक्ष में चुटकी का भी दौर चला

21 Jun 2017
रायपुर।तीसरे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर शहर के बूढापारा स्थित इंडोर स्टेडियम में सीएम डॉ. रमन सिंह समेत कई सांसद, विधायक और कांग्रेस पार्टी के लोगों ने योग किया। इस दौरान कई स्कूलों से करीब डेढ़ हजार से ज्यादा स्टूडेंट्स ने भी योग के महत्व को जाना और योग किया।
जानिए कैसे मंच पर खींची एक दूसरे की टांग.. - मंच पर बीजेपी के सांसद रमेश बैस और कांग्रेस के लीडर सत्यनारायण शर्मा के बीच चुटकी लेने का भी दौर चला। यहां एक ही मंच पर आए बीजेपी और कांग्रेस के नता योग के साथ ही रानैतिक योग भी करते नजर आए। - यहां भी एक दूसरे की क्षमताओं पर कटाक्ष करते हुए मैसेज दिया कि अभी आप लय-ताल में नहीं आए हैं। ज्यादा कोशिश की जरूरत है। वहीं जवाब ये था कि हम तो लय ताल मिला ही लेते हैं आप अपने को संभालिए। - सत्य नारायण शर्मा जब बीच-बीच में योग के दौरान रुके तो रमेश बैस ने कहो आप से योग नहीं हो पा रहा है। - इधर सत्यनारायण शर्मा ने जवाब देते हुए कहा कि मैं आपसे अच्छा योग कर रहा हूं। आप खुद को ही देखो। - अनुलोम-विलोम, भ्रामरी समेत अनेक योग के जरिए सीएम ने हेल्दी तन और मन का संदेश दिया। यह कार्यक्रम जनसंपर्क विभाग की ओर से आयोजित किया गया था। कार्यक्रम सुबह 7 बजे से 8 बजे तक चला।


आपत्तिजनक हालत में थे प्रेमी युगल, लोगों ने मना किया तो गुंडे बुलाकर की तोड़फोड़

19 Jun 2017
रायपुर। शहर के आयुर्वेदिक महाविद्यालय कैंपस में प्रिंसिपल के आवास में घुसकर तोड़फोड़ करने का मामला सामने आया है। स्थानीय लोगों ने बीच-बचाव कर मनचलों को रोका और पुलिस के हवाले कर दिया।
जानिए पूरा मामला.. पुलिस के मुताबिक कैंपस में मनचले लड़कियों के साथ अपत्ति जनक हालत में थे। जब प्रिंसिपल डॉ. राजेश सिंह ने उन्हें रोका तो वे देख लेने की धमकी दी। - कुछ देर बाद कई युवक आए और प्रिंसिपल के घर में घुसकर तोड़फोड़ करने लगे। - ये देख कैंपस में स्थित दूसरे आवासों में रह रहे लोगों ने बीच-बचाव किया और पुलिस बुलाकर मनचलों को उनके हवाले कर दिया। पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है।


एक वादे के लिए आज भी नमक नहीं खाते ये मंत्री, खुद चलाते हैं खेतों में हल

16 Jun 2017
रायपुर. राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति के अध्यक्ष और बीजेपी के सीनियर आदिवासी लीडर नंदकुमार साय की खेतों में जुताई-बुआई करने की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। इस बीच बता दें कि दर्जा प्राप्त केंद्रीय कैबिनेट मंत्री नंदकुमार साय ने चार-पांच दशकों से नमक भी नहीं खाया है।
नमक छोड़ने के पीछे भी एक इंटरेस्टिंग स्टोरी है. - अविभाजित मध्यप्रदेश में तीन बार MLA, 3 बार लोकसभा सांसद और 2 बार राज्यसभा सांसद रह चुके नंदकुमार साय आदिवासी समाज के दिग्गज नेता हैं। - आदिवासी समाज के लोगों में शराब की बुरी लत छुड़ाने के लिए एक बार उन्होंने हजारों किमी की पदयात्रा भी की थी। - एक जगह आदिवासियों ने ताना दिया, उनके लिए तो शराब वैसे ही है, जैसे खाने में नमक। - उन्होंने साय से कहा, यदि वह नमक छोड़ सकते हों तो वे शराब छोड़ देंगे। इस पर साय ने 'हां' कह दिया और वहीं से प्रण लिया कि वे नमक नहीं खाएंगे। - इस घटना के 40 साल से ज्यादा हो चुके हैं, साय ने नमक को हाथ नहीं लगाया है।
कैबिनेट मंत्री का दर्जा. - पूर्व सांसद नंदकुमार साय को मोदी सरकार में राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग का अध्यक्ष बनाया गया है। उन्हें केंद्रीय कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है। - वे 1977, 1985 और 1998 में मध्य प्रदेश विधानसभा के सदस्य रह चुके हैं। साल 2000 में वे छत्तीसगढ़ विधानसभा के सदस्य बने और पहले विपक्ष के नेता बने थे। - साय 1989, 1996 और 2004 में लोकसभा सांसद भी रह चुके हैं। इसके साथ ही 2009 और 2010 में वह राज्यसभा के लिए चुने जा चुके हैं।
खुद चलाते हैं हल. - नंद कुमार अपने गृह गांव भगोरा में खुद के खेतों में हल चलाते हुए और बुबाई करते देखा जा सकता है। - इसके पीछे उनका तर्क है कि बचपन से खेती से जुड़े होने के कारण आज भी वे किसान ही हैं। - साय पिछले 10 जून से अपने गृह नगर जशपुर प्रवास पर थे। जहां भागोरा स्थित अपने गांव वे हल चलाते दिखे। इसके बाद से उनकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो गईं।
नंदकुमार के बारे में. - वह अविभाजित मध्यप्रदेश में बाद में छत्तीसगढ़ में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष भी रह चुके हैं। - कांग्रेस सरकार के समय वह छत्तीसगढ़ विधानसभा में विपक्ष के नेता रहे हैं। - साय अब तक चार बार विधायक रहे। तीन बार लोकसभा और दो बार राज्यसभा के सांसद रहे। - साय बेहद सादा जीवन जीते हैं। फ्लाइट से सफर करना जरूरी हो तो इकोनॉमी क्लास चुनते हैं। - उनका कहना है कि संसद का पैसा आदमी के टैक्स से आता है, उसे सोच-समझकर खर्च करना चाहिए।


22 साल का साथ छोड़ किसी दूसरे के साथ भागी पत्नी तो पति ने उठा लिया ये कदम

13 Jun 2017
धमतरी।यहां एक शख्स सुबह अपने घर में फंदे पर झूलता हुआ मिला। उसकी दो नाबालिग बेटियों ने पिता को जब इस हालत में देखा तो वे दहाड़े मारकर रोने लगी। ऐसे में पड़ोसी भी इकट्ठा हो गए और पुलिस को सूचना दी गई। बताया जा रहा है कि तीन पहले पत्नी ने मृतक और दो बेटियों को छोड़ किसी और के साथ चली गई और वहीं घर बसा लिया। इससे मृतक काफी उदास रहता था। - कोतवाली पुलिस के मुताबिक घासीदास वार्ड निवासी 55 वर्षीय बुधराम लहरे का शव मंगलवार को उसकी झोपड़ी में फंदे से लटकता हुआ मिला। - सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को उतारकर कब्जे में ले लिया और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। - पुलिस को मिली प्राथमिक जानकारी के मुताबिक बुधराम की शादी 22 साल पहले भानवती लहरे से हुई थी। - बुधराम कुली और मजदूरी का काम कर अपने परिवार का पेट पालता था। उसकी चार बेटियां हुईं जिसमें दो की शादी हो गई और दो नाबालिग हैं। - तीन माह पहले भानवती किसी और के साथ घर और दो नाबालिग बेटियों को छोड़कर भाग गई। बुधराम इस इंतजार में था कि काश वो लौट आएगी। - इधर जब उसे पता चला कि उसने तो शादी कर ली। यह सुन उसका दिल बैठ गया। वो अक्सर उदास रहने लगा। सोमवार की रात में उसने खाना खाया और सोने चला गया। - जब सुबह उसकी 14 और 15 वर्षीय दोनों बेटियां उठीं तो वे अपने पिता को जगाने गईं। उन्होंने फंदे पर लटकते हुए पिता को देखा तो दहाड़े मारकर रोने लगीं। - पढ़ाई-लिखाई छोड़ दोनों बेटियां पिता के साथ काम में हाथ बंटाती थीं। मां तो पहले ही छोड़ गई थी। बस पिता का सहारा था। सुसाइड या मर्डर - पुलिस ने जब बुधराम को फंदे से लटकते हुए देखा तो उस वक्त उसका पैर जमीन को छू रहा था। - पुलिस को संदेह है कि ये मर्डर भी हो सकता है। हालांकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है।


अमित शाह पहुंचे रायपुर, एयरपोर्ट पर ही होने लगा स्वागत, बैठकों का दौर शुरू

8 Jun 2017
रायपुर।भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह 3 दिन के दौरे पर आज राजधानी पहुंचे। स्वामी विवेकानंद विमानतल पर उनका जोरदार स्वागत किया गया। शाह की अगवानी करने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक, राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पांडे, अनुसूचित जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामविचार नेताम, मंत्री बृजमोहन अग्रवाल के अलावा राजेश मूड़त समेत सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे। जानिए कैसा था हाल...
- राष्ट्रीय अध्यक्ष का एयरपोर्ट पर भव्य स्वागत किया गया। इसके बाद वे कुशाभाऊ ठाकरे यूनिवर्सिटी परिसर में पहुंचे। यहां पार्टी पदाधिकारियों की बैठक की शुरुआत की। - सबसे पहले उन्होंने हॉल में लगे भारत माता, पंडित दीनदयाल उपाध्याय, डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी के तैल चित्रों पर दीप प्रज्वलित किया। - वंदेमातरम के गीत से कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत की। इस अवसर पर राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री सौदान सिंह, मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह, प्रदेश प्रभारी डॉक्टर अनिल जैन, प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक समेत पार्टी के प्रदेश पदाधिकारी शामिल हुए।


CM डॉ. रमन सिंह जापान में ओसाका सिटी में CG निवेशक सम्मेलन को कर रहे संबोधित

2 Jun 2017
रायपुर।सीएम डॉ. रमन सिंह इस समय विदेश दौरे पर हैं। वे शुक्रवार को जापान के ओसाका शहर में छत्तीसगढ़ के निवेशक सम्मेलन में हिस्स ले रहे हैं। वहां निवेशकों को संबोधित करने के बाद वे उनसे वन-टू-वन मुलाकात भी करेंगे। - इस सेमिनार में सीएम डॉ. रमन सिंह के अलावा जापान एक्सटर्नल ट्रेड आर्गेनाइजेशन (JETRO), ओसाका चैंबर आॅफ कामर्स एंड इंडस्ट्री, इंडियन चैंबर आॅफ कामर्स जापान, कंसाई इकोनामिक फेडरेशन एवं इंटरनेशनल बिजनेस प्रमोशन सेंटर ओसाका एवं कंफेडरेशन आफ इंडियन इंडस्ट्रीज के निवेशक एवं जापान के विभिन्न उद्योग एवं व्यापार संघों के प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं। - संबोधन के बाद रमन सिंह छत्तीसगढ़ के निवेशकों से वन-टू-वन मुलाकात करेंगे।


बीएसपी में विश्व की सबसे लंबी रेलपांत का उत्पादन शुरू, कई देश कतार में

3 December 2016
भिलाई स्टील प्लांट ने सोमवार को दुनिया की सबसे लंबी रेलपांत बनाकर इतिहास रच दिया। इसकी लंबाई 130 मीटर है। बीएसपी की स्थापना के 60 साल बाद यूनिवर्सल रेल मिल की सौगात हकीकत में बदली और कमर्शियल प्रोडक्शन ट्रॉयल के रूप में चालू कर दिया गया। इसके साथ ही करीब आठ सालों तक बीएसपी के पास रेलपांत बनाने का ऑर्डर भी आ चुका है। मौजूदा और भावी ऑर्डर से बीएसपी सहित सेल के मुनाफे का ग्राफ भी बढ़ जाएगा। सोमवार सुबह राइट्स के अधिकारियों ने दुनिया के लेटेस्ट यूआरएम का मौका मुआयना कर सभी पहलुओं को परखा। इसके बाद कामर्शियल प्रोडक्शन का क्लियरेंस दे दिया। राइट्स के क्लियरेंस के इंतजार में हर हर किसी की धड़कनें बढ़ी हुई थी।


कॉलेज एग्जीबिशन में फटा सिलेंडर, 8 स्टूडेंट्स घायल, बाल-बाल बचे विधायक

2 December 2016
यहां कैलाशनगर स्थित क्रिश्चियन कॉलेज में आज आयोजित साइंस एग्जीबिशन में गैस सिलेंडर फट गया जिसमें आठ स्टूडेंट्स घायल हो गए। कार्यक्रम में चीफ गेस्ट के तौर पर पहुंचे लोकल एमएलए अरुण वोरा बाल-बाल बच गए। शुरू होते ही हुआ हादसा... - कॉलेज से मिली जानकारी के मुताबिक यह ब्लास्ट जेट इंजन के मॉडल में लगाए गए सिलेंडर में हुआ। - उस वक्त एमएलए अरुण वोरा एग्जीबिशन देखने के लिए कॉलेज में एंटर ही कर रहे थे। - वोरा के साथ प्रदेश कांग्रेस कमिटी के पूर्व सचिव सीजू एंथोनी भी थे। - घायल स्टूडेंट्स को एक प्राइवेट हॉस्पिटल मे एडमिट कराया गया है। एक स्टूडेंट बेहोश है।


दोस्त के कमरे में गई थी लड़की, पुलिस वालो ने लड़के को भगा किया ऐसा काम

1 December 2016
पुलिस ने जामुल थाना में पदस्थ तीन आरक्षकों के खिलाफ नाबालिग लड़की की अश्लील फोटो खींचकर उसे ब्लैकमेल करने के आरोप में अपराध दर्ज किया है। वे अश्लील फोटो खींच और वीडियों बनाकर नाबालिग को यह कहकर ब्लैकमेल कर रहे थे कि हमारे बताए गए सूने मकान में आ जाना नहीं तो तुम्हारी फोटो वायरल कर देंगे। ड्यूटी के दौरान लड़की से की अशलील हरकतें... - पार्षद की 17 वर्षीय भतीजी रविवार को गोरखपुर से आने के बाद सोमवार को अपने दोस्त के यहां एग्जाम फार्म के 1500 रुपए देने कुरुद आई थी। - तभी जामुल थाने के आरक्षक संजय सोनी, सागर कन्नौजिया व उमेश पाण्डेय वहां आ धमके। - तीनों आरोपियों ने कमरें का दरवाजा खुलवाया।अंदर घुसकर दोनों को धमाकाने लगे। - आरोपी पुलिस वालों ने ड्यूटी के दौरान लड़की से अशलील हरकत की थी। - घटना उजागर होने के बाद से तीनों आरक्षक फरार हैं। पुलिस उनकी तलाश कर रही है।


जजों के लिए जारी हुए हाईकोर्ट के सख्त निर्देश, दुष्कर्म पीड़िता की छिपाएं पहचान

30 November 2016
निचली अदालतों के आदेश व निर्णयों में दुष्कर्म या यौन अपराधों से पीड़िताओं की पहचान जाहिर करने पर हाईकोर्ट ने सख्त दिशा- निर्देश जारी किया है। एक मामले में दिए गए फैसले में चीफ जस्टिस दीपक गुप्ता की बेंच ने हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल को आदेश की कॉपी प्रदेश के सभी न्यायिक अधिकारियों को भेजने के निर्देश दिए हैं। साथ ही कहा है कि पीड़िता का नाम, पहचान जाहिर करने वाले न्यायिक अधिकारियों के खिलाफ सख्त अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। आईपीसी की धारा 228 ए की व्याख्या करते हुए हाईकोर्ट ने कहा है कि इस धारा को दुष्कर्म पीड़िताओं को सामाजिक प्रताड़ना से बचाने के उद्देश्य से शामिल किया गया है, लेकिन प्रदेश के न्यायिक अधिकारी इसकी अनदेखी कर रहे हैं।


जोगी नहीं उतारेंगे प्रत्याशी फिर भी त्रिकोणीय जंग, 27 दिसबंर को है चुनाव

29 November 2016
भिलाई-3,चरोदा नगर निगम में आम चुनाव की डुगडुगी बज गई है। पांच दिसंबर से इसकी प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। 27 दिसंबर को मतदान होगा और मतों की गिनती 30 दिसंबर होगी। इस दिन ही तय हो जाएगा कि नगर पालिका से अपग्रेड होकर नगर निगम बने भिलाई-3 चरोदा में किस पार्टी की सरकार होगी। नए साल 2017 में यहां के लोगों को अपने शहर की नई सरकार मिल जाएगी। ़ चुनाव की अधिसूचना जारी होते ही क्षेत्र में सियासी हलचल बढ़ गई है। भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के साथ निर्दलीय उम्मीदवारों के बीच कड़ा मुकाबला होने की संभावना है। अमित जोगी ने भास्कर से हुई बातचीत मेंे स्पष्ट कर दिया है कि उनकी पार्टी की रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई है, इसकी वजह से वे चुनाव मैदान में नहीं उतरेंगे। फिर भी जानकारों का मानना है कि इसमें उनकी भूमिका महत्वपूर्ण रहेगी। इसके पीछे मुख्य कारण है कि छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस (जोगी) बनने के बाद यह पहला चुनाव है। यह चुनाव राज्य सरकार और मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि 2018 में होने वाले विधान सभा चुनाव के पहले का यह आम चुनाव है। इन दोनों चुनाव के बीच में फिलहाल किसी और चुनाव की संभावना नहीं है। इसी वजह से इसे सेमीफाइनल के रूप में देखा जा रह है। इसी वजह से राजनीतिक गलियारे में इसका महत्व भी बढ़ गया है। माना जा रहा है कि इससे विधानसभा चुनाव के परिणाम का अनुमान लगाया जा सकता है। इसी वजह से इसका महत्व है।


सख्त हुआ शासन तो लेबर इंस्पेक्टर झुके, सरकार ने इंस्पेक्टरों को भेजी थी नोटिस

29 November 2016
राज्य सरकार ने श्रम विभाग के लिए जो नए कानून लागू किए हैं उसका विरोध करते हुए लेबर इंस्पेक्टरों ने पूरे प्रदेश में बगावत का बिगुल फूंक दिया था। उन्होंने नए कानून वापस न लेने पर बेमुद्दत काम ठप करने की चेतावनी दे डाली थी। लेबर इंस्पेक्टरों के अचानक इस कदम से पहले तो विभाग के होश उड़ गए, लेकिन बाद में उसने सभी बगावतियों को नौकरी से निकालने का फैसला कर लिया। इसके लिए पहले 39 लेबर इंस्पेक्टरों को नोटिस जारी की गई। इसकी भनक लगते ही उन्होंने सरकार के फैसलों से सहमति जता दी। विभाग के अंदर यह पूरा ड्रामा पिछले हफ्तेभर चला। श्रम विभाग ने आजादी के बाद 4 नवंबर को सबसे बड़ा कदम उठाते हुए इंस्पेक्टर राज का खात्मा कर दिया था। उनकी भौगोलिक कार्य सीमा भी प्रदेशभर तय कर दी और बिना सूचना के छापों पर बैन लगा दिया। इससे नाराज होकर लेबर इंस्पेक्टर लामबंद हो गए। उन्होंने विरोध का झंडा उठा लिया। उन्होंने पुरानी व्यवस्था बहाल करने की मांग की। उन्होंने 22 नवंबर से अनिश्चितकालीन सामूहिक अवकाश पर जाने चेतावनी पत्र दे दिया। इसे सरकार ने अनुशासनहीनता, कर्तव्यविमुखता व कदाचरण मानते हुए 39 श्रम निरीक्षकों को नोटिस थमाकर तीन दिनों में जवाब देने के निर्देश दिए।


ऑनलाइन पेमेंट कर लाए थे लड़कियां, फ्लैट में घुसी पुलिस तो इस हाल में मिले

28 November 2016
राजधानी के महावीर नगर में देह व्यापार की सूचना के बाद पुलिस ने देर रात एक फ्लैट से दो लड़कियों के साथ दो युवकों को पकड़ लिया। पुलिस के मुताबिक युवक खुद भिलाई जाकर लड़कियों को यहां लाए थे। नोटबंदी की वजह से किया ऑनलाइन पेमेंट... - देह व्यापार को लेकर सौदा प्रायः नगद होता है लेकिन यहां कैश न होने के कारण ऑनलाइन पेमेंट करना पड़ा। - ऑनलाइन पेमेंट की मांग खुद लड़कियों ने ही की थी। - शनिवार को पुलिस ने चारों के खिलाफ प्रतिबंधात्मक कार्रवाई करते हुए उन्हें जेल भेज दिया है। दोनों युवक बाहर के -न्यू राजेंद्रनगर टीआई संध्या द्विवेदी ने बताया कि पुलिस को रात में पलास हाइट्स के एक फ्लैट में दो युवकों के साथ दो युवतियों के होने की सूचना मिली थी।


रणजी ट्रॉफी: छत्तीसगढ़ के खिलाफ हरियाणा की टीम 178 रन पर सिमटी

28 November 2016
.छत्तीसगढ़ के गेंदबाजों का रणजी ट्रॉफी में उम्दा प्रदर्शन जारी है। टीम ने हरियाणा को पहली पारी में 178 रन पर आउट कर दिया। लगातार तीसरे मैच में विरोधी टीम हमारे गेंदबाजों के सामने पहली पारी में 200 रन का आंकड़ा नहीं छू सकी। स्पिनर अजय मंडल ने 26 रन देकर चार विकेट झटके। दिन का खेल खत्म होने पर छग ने एक विकेट पर 68 रन बना लिए थे। टीम अभी 110 रन पीछे है। 22 रन पर गिरे तीन विकेट - इससे पहले टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी हरियाणा की शुरुआत अच्छी नहीं रही। पांचवें ओवर में तेज गेंदबाज पंकज राव ने विकेटकीपर बल्लेबाज नितिन सैनी (7) को साहिल के हाथों कैच कराया। - इसके बाद प्रतीक ने चैतन्य बिश्नोई (1) और पंकज ने हिमांशु राणा (1) को पैवेलियन भेजा। - 22 रन पर तीन विकेट गिरने के बाद ओपनर शुभम रोहिला (17) और रजत पालीवाल (17) ने 28 रन की साझेदारी कर स्कोर 50 रन तक पहुंचाया। - रोहिल को बाएं हाथ के स्पिनर अजय मंडल ने अपनी ही गेंद पर कैच कर आउट किया। रजत को अपना पहला रणजी मैच खेल रहे तेज गेंदबाज अभिषेक ताम्रकर ने कैफ के हाथों कैच कराया। - जोगिंदर शर्मा (1) को मंडल ने आउट कर टीम को छठा झटका दिया। टीम ने 13 रन के भीतर तीन विकेट गंवा दिए


इस गांव में महिलाओं को है पलंग-कुर्सी पर बैठने की मनाही

28 November 2016
नगरी का संदबाहरा गांव। तकरीबन 40 परिवार रहते हैं यहां। ये गांव अपनी एक परंपरा के चलते जाना जाता है। यहां महिलाओं को खाट, पलंग, कुर्सी इत्यादि में बैठने का अधिकार नहीं है। इसी तरह वो श्रृंगार भी नहीं कर सकतीं। ऐसी मान्यता है कि अगर महिलाएं ऐसा करेंगी, तो ज्यादा समय तक जिंदा नहीं रहेगी या कोई न कोई बीमारी जरूर हो जाएगी। इसके पीछे एक अलग कहानी है, लेकिन इस कहानी का डर लोगों में आज तक मौजूद है।राजधानी से करीब 150 किमी दूर धमतरी जिले में है ये गांव। भास्कर की टीम इस गांव में पहुंची। इस रूढ़ी के बारे में जाना। गांव में 257 लोग रहते हैं। इसमें करीब 105 महिलाएं व युवतियां हैं। - 45 वर्षीय जयंती नाग कहती हैं कि उसने अपने जीवन में शादी के वक्त भी श्रृंगार नहीं किया। कारण यही था, लोगों ने डरा दिया था। - दिवाली, दशहरा कोई भी त्यौहार हो, श्रृंगार बिल्कुल नहीं। चूड़ी, बिंदिया, पायल, लिपस्टिक तो दूर की बात है, सिंदूर तक यहां की महिलाएं नहीं लगातीं। - इसके पीछे सिर्फ एक डर है। जब आप इस गांव में जा रहे होते हैं, तो रास्ते मेें आपको सबकुछ छोटी बस्तियों जैसा ही दिखाई देता है। - रास्ते पर बड़ी-छोटी श्रृंगार की दुकानें दिखाई देंगी। सभी चीजों की दुकानें दिखेंगी, जो आमतौर पर शहरों में मिलते हैं। लेकिन जैसे ही इस गांव में जाएंगे, यहां सब कुछ बदला बदला दिखेगा। - यहां न तो महिलाएं श्रृंगार में नजर आएंगी और न ही उन्हें लकड़ियों से बनीं चीजों पर बैठने का अधिकार होगा।


गौरवपथ में भ्रष्टाचार: इंजीनियरों पर होगी कार्रवाई, हाईकोर्ट ने दिए आदेश

27 November 2016
गौरवपथ निर्माण में भ्रष्टाचार करने वाले ठेकेदारों और उनका साथ देने वाले नगर निगम के इंजीनियरों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश हाईकोर्ट ने 4 महीने पहले दिए थे। इस मामले की संपूर्ण जांच करने के बाद नगर निगम आयुक्त ने फाइल कार्रवाई के लिए शासन के पास भेज दी है। रिपोर्ट में की गई अनुशंसा को पूरी तरह से गोपनीय रखा गया है। सड़क निर्माण का किया काम इस प्रकार गौरवपथ के निर्माण में भ्रष्टाचार करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की गेंद घूम फिरकर शासन के पाले में चली गई है। 2.6 किलोमीटर लंबे गौरवपथ के निर्माण में भारी भ्रष्टाचार हुआ। तीन अलग-अलग कंपनियों ने इस सड़क का निर्माण का कार्य किया । निर्माण के दौरान नगर निगम के इंजीनियरों ने मिलीभगत कर लाखों रुपए का गोलमाल किया। इसकी वजह से सड़क जगह-जगह से धंस रही है और चलने लायक नहीं रह गई है। नगर निगम आयुक्त सौमिलरंजन चौबे ने निर्माण करने वाली तीनों कंपनियों और पांचों इंजीनियरों के खिलाफ जांच पूरी कर रिपोर्ट कार्रवाई के लिए शासन को भेज दी है।


इस IPS ने किया ऐसा काम, इस एक वजह से बुलाया अमेरिका ने

27 November 2016
सैन डियागो में दुनिया भर से पहुंचे पुलिस चीफ के बीच छत्तीसगढ़ के आईपीएस ऑफिसर आरिफ शेख छा गए। बालोद जिले के एसपी आरिफ को यूएस के कैलिफोर्निया के सैन डियागो कन्वेंशन सेंटर में आईएसीपी (इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ चीफ ऑफ पुलिस) अवार्ड से नवाजा गया। इस अवार्ड को पुलिसिंग की फील्ड का ऑस्कर अवार्ड कहा जाता है। क्यों मिला ये अवार्ड... - बालोद पुलिस को यह अवार्ड नवोदय अभियान में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने पर मिला है। - पिछले 18 सालों से इस तरह के इंटरनेशनल अवार्ड्स विकसित देशों को मिलते रहे हैं लेकिन इस बार इंडिया उनसे आगे निकल गया। - नवोदय अभियान के तहत मिशन ई-रक्षा, मिशन पूर्ण शक्ति तथा मिशन जीवदया को समय और योजनाबद्ध तरीके से क्रियान्वित करने पर बालोद पुलिस को यह इंटरनेशनल अवार्ड मिला


पॉश इलाके में हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट, तीन लड़कियों के साथ दो युवक पकड़ाए

26 November 2016
राजधानी के बेहद पॉश इलाके शंकर नगर के एक मकान में पुलिस ने देर रात दबिश देकर सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ कर दिया। मौके से तीन युवतियों और दो युवकों को पकड़ लिया गया। कमरे में शराब की बोतलों के साथ कई आपत्तिजनक सामान मिले हैं। पुलिस पूछताछ में जुटी हुई है। हाईप्रोफाइल सेक्स रैकेट की आशंका है।



रात में की वाइफ से बात, सुबह फंदे से लटकी मिली कॉन्स्टेबल की लाश

26 November 2016
मृत कॉन्स्टेबल सोन साय पैकरा (35) सूरजपुर जिले का रहने वाला था। - माना थाने से मिली जानकारी के मुताबिक उसने बैरक में सबके साथ रात करीब साढ़े आठ बजे खाना खाया था। - उसके बाद छत पर चला गया था। उसके बाद उसने फांसी कब लगाई, क्यों लगाई किसी को नहीं मालूम। - सुबह जब बाकी पुलिसकर्मी उठे तो पैकरा का शव सीढ़ी के सबसे ऊपरी प्लेटफार्म के ऊपर छत से लटका हुआ पाया। - पुलिस के मुताबिक जब उसके फोन की जांच की गई तो पता चला कि उसने आखिरी कॉल पत्नी को लगाया था। - क्या बातचीत हुई, किसी तरह का कोई झगड़ा या तनाव था या नहीं, पुलिस इन सब एंगल्स से जांच कर रही है। - शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। मौत की सूचना कॉन्स्टेबल के घरवालों को दे दी गई है।


हवाई अड्‌डे से लाइव रिपोर्ट: रनवे बने मवेशियों का अड्‌डा, गांववालों का आम रास्ता भी

26 November 2016
केंद्रीय एयरपोर्ट अथाॅरिटी ने हाल में घरेलू विमानसेवा के लिए छत्तीसगढ़ के तीन शहरों जगदलपुर, बिलासपुर और रायगढ़ को चुना। यहां से विमान कैसे उड़ेंगे, यह जानने भास्कर की स्पेशल इनवेस्टिगेशन टीम ने तीन छोटे शहरों की हवाई पट्टियों का मुआयना किया। बिलासपुर का रन-वे आम रास्ता है, रायगढ़ हवाई पट्टी में पिछले साल धान खरीदी हुई थी, अंबिकापुर के रन-वे पर लोग बाइक सीखते मिले। ग्राउंड जीरो से देवेंद्र गोस्वामी, असगर खान, ठाकुरराम यादव की रिपोर्ट :- छत्तीसगढ़ शासन ने पिछले साल सितंबर में केंद्रीय नागरिक विमानन मंत्रालय से समझौता किया है कि बिलासपुर, अंबिकापुर, रायगढ़ और जगदलपुर के रन-वे को डेवलप कर यहां से अप्रैल 2017 यानी सिर्फ पांच माह बाद घरेलू और कामर्शियल हवाई सेवा शुरू की जाएगी। इसी हफ्ते केंद्रीय एयरपोर्ट अथआरिटी ने बिलासपुर, रायगढ़ और जगदलपुर शहरों से घरेलू हवाई सेवा शुरू करने की मंजूरी दे दी। तीनों हवाई अड्डों की पड़ताल के लिए निकली भास्कर टीम को बिलासपुर के चकरभाठा हवाई अड्डे में रन-वे पर मवेशी घूमते नजर आए।

 


एयरपोर्ट में नोट बदलने तीन काउंटर, जनदर्शन में नोटों के लिए निकले आंसू

24 November 2016
नोट बंदी के बाद हवाई यात्रियों की सुविधा के लिए पहली बार एयरपोर्ट में तीन नोट एक्सचेंज के काउंटर खोले गए हैं। यानी हवाई यात्रा कर रहे लोगों को तो आसानी होगी, लेकिन गांवों में रहने वाले लोगों को परेशानियां और बढ़ रही है। कलेक्टोरेट में सोमवार को आयोजित जनदर्शन में पहुंचे लोगों ने बताया कि उनके गांवों के एटीएम खाली हो गए हैं। बैंकों में सौ-सौ के नोट नहीं होने की वजह से उनके नोट एक्सचेंज भी नहीं हो रहे हैं। - गांव वाले एक-एक, दो-दो हजार के लिए कई किमी का सफर तय कर रहे हैं। हवाई यात्रियों की सुविधा के लिए अब एयरपोर्ट में भी नोट एक्सचेंज का काम शुरू हो गया है। - नोट एक्सचेंज करवाने के लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी रायपुर ने कुछ बैंकों से संपर्क किया था। बैंकों की सहमति के बाद उनके लिए अलग से काउंटर अलॉट कर दिए गए हैं।


ममेरे भाई से फोन पर बात करते देखा, शक में पति ने पीट-पीटकर मार डाला

24 November 2016
ममेरे भाई से मोबाइल पर बात करते देख गुस्साए पति ने लाठी से पीट-पीट कर पत्नी की हत्या कर दी। वहीं मृतिका के परिजनों ने दहेज के लिए हत्या करने का आरोप लगाया हैं। हत्या का अपराध दर्ज कर आरोपी पति को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। - पेंड्रा थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत बचरवार निवासी होटल मिस्त्री मुकेश उर्फ भीम साहू पर अपनी ही पत्नी रानी साहू की हत्या करने का आरोप लगा है। - पुलिस के मुताबिक आरोपी मुकेश अपनी पत्नी के चरित्र पर शक करता था। रविवार की रात आरोपी नशे की हालत में घर आया और पत्नी रानी से विवाद करने लगा। - विवाद बढ़ने पर गुस्साए आरोपी ने लाठी से रानी की ताबड़तोड़ पिटाई कर दी। इसमें उसके चेहरे, पीठ, जांघ व छाती में गंभीर चोंटे आई। इससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई। - घरवालों ने इसकी सूचना पुलिस के साथ ही मृतिका के परिजनों को दी। पुलिस ने पंचनामा कर शव का पोस्टमार्टम कराया। इसके बाद लाश परिजनों को सौंप दी। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।


एक बस छूटी, दूसरी पकड़ने बहन के साथ निकली तो ट्रेलर ने ले ली जान

23 November 2016
दोनों सांड़बार बैरियर के पास पहुंचने वाले ही थे कि पीछे से आ रहे खाली ट्रेलर ने युवती को चपेट में ले लिया और उसकी मौके पर ही मौत हो गई। - हादसे से नाराज लोगों ने एक ट्रेलर में हल्की तोड़फोड़ कर परिजनों के साथ सड़क पर शव रख कोल परिवहन रोक दिया। - ग्रामीण सांड़बार-सुखरी रोड से कोल परिवहन रोकने व दुर्घटनाकारी ट्रेलर के मालिक व ड्राइवर को बुलाने की मांग कर रहे थे। प्रदर्शन 4 घंटे तक चलता रहा। - बाद में एडीएम द्वारा मांगों के संबंध में ग्रामीणों की उपस्थिति में 24 नवंबर को एसईसीएल प्रबंधन के साथ बैठक करने का आश्वासन देने पर उन्होंने प्रदर्शन खत्म किया। - ग्राम थोर निवासी 20 वर्षीय रोजी बिंदी राजवाड़े पिता हीरालाल राजवाड़े अंबिकापुर में गांधी चौक स्थित डाटा सेंटर में एक प्राइवेट फर्म से जुड़कर पिछले कुछ महीने से जनगणना कार्यक्रम में डाटा एंट्री का काम कर रही थी। - वह रोज सिटी बस से ही अंबिकापुर आना-जाना करती थी। सोमवार को सिटी बस छूट जाने से वह अपनी चचेरी बहन रीतिका राजवाड़े के साथ निकली। - रीतिका गर्ल्स पीजी कालेज में बीएससी फाइनल इयर में पढ़ती है। दोनों ने सांड़बार बैरियर पर दूसरी बस पकड़ने के लिए आटो पकड़ी।


युवती ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में लगाया युवक पर आरोप, लिखा- मेरी इमेज खराब कर दी

23 November 2016
शिवकंठ नगर में एक युवती ने सोमवार को घर में फांसी लगा ली। परिजन उसे निजी अस्पताल लेकर पहुंचे, मगर उसकी जान नहीं बचाई जा सकी। बाणगंगा पुलिस के मुताबिक मृतका 21 वर्षीय रानू सोलंकी निवासी शिवकंठ नगर थी। उसने सोमवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। परिजन बाहर से घर पहुंचे तो रानू ने गेट नहीं खोला। मां कमलबाई ने देखा तो बेटी फंदे पर लटकी हुई थी। आसपास के लोगों की मदद से वह उसे लेकर अरविंदो अस्पताल पहुंचे थे। घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची। वहां सुसाइड नोट मिला जिसे जब्त किया है। सुसाइड नोट में उसने युवक पर आरोप लगाते हुए लिखा है कि प्रदीप नरवरिया ने मुझे मरने पर मजबूर कर दिया है। अब उसकी बारी आनी चाहिए। बहुत तकलीफ दी है, उसने मेरी इमेज खराब कर दी। परिजनों ने पुलिस को बताया उन्होंने रानू का वाट्सएप चेक किया था, जिसमें एक लड़के से बातचीत थी जिसने रानू से शादी करने से मना कर दिया था।


अश्लील डांस देख बेकाबू हुआ मंत्री के बेटे का गार्ड, पुलिस के सामने की फायरिंग

22 November 2016
छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले में रावण दहन के बाद एक प्रोग्राम में मंत्री के बेटे के सिक्युरिटी गार्ड ने जमकर फायरिंग की। लेडी डांस के दौरान फायरिंग के साथ ही नोट भी बरसाए गए। ये सब पुलिस की मौजूदगी में ही हुआ। अश्लील डांस देखकर बेकाबू हुआ गनमैन... - पटना में मंगलवार को रावण दहन के बाद कल्चरल प्रोग्राम ऑर्गनाइज्ड किया गया था, जिसमें एक लेडी डांसर काे बुलाया गया था। - प्रोग्राम में स्टेट के लेबर और स्पोर्ट्स मिनिस्टर भइयालाल राजवाड़े मौजूद थे। रावण दहन के आधे घंटे बाद 10.30 बजे वे वहां से चले गए। - इसके बाद उनके बेटे विजय राजवाड़े करीबन रात 1 बजे प्रोग्राम में पहुंचे। उनके साथ उनका प्राइवेट गनमैन सुखपाल सिंह बरार भी था। - जानकारी के मुताबिक, अश्लील डांस देखते-देखते गनमैन सुखपाल सिंह अपना आपा खो बैठा था। उसने अपनी ऑटोमैटिक गन से हवा में गोलियां चलानी शुरू कर दी। - अचानक गोली चलने से लोग डर गए और सुखपाल को मना किया, लेकिन वह रुका नहीं और 15-20 मिनट बाद फिर फायरिंग शुरू कर दी।


फेसबुक पर आपत्तिजनक टिप्पणी से तनाव; आगजनी, तोड़फोड़ के 144 लागू

22 November 2016
फेसबुक पर देवी-देवताओं पर अभद्र टिप्पणी करने वाले युवक की गिरफ्तारी के बाद भी बुधवार को हजारों की संख्या में लोग सड़क पर उतर आए और उग्र प्रदर्शन किया। भीड़ द्वारा तोड़फोड़, आगजनी, रोड ब्लॉक के बाद प्रशासन ने शहर में धारा 144 लागू कर दिया है। क्षेत्र में तनाव कायम है। सर्वदलीय मंच ने बुलाया था बंद... - देवी दुर्गा पर अश्लील टिप्पणी करने वाले युवक के खिलाफ सर्वदलीय मंच के लोग कड़ी कार्रवाई की मांग पर अड़े थे। उन्होंने कलेक्टोरेट और एसपी ऑफिस का घेराव कर दिया।

 

 


354 नक्सलियों-समर्थकों ने एक साथ किया सरेंडर, पुलिस ने खिलाया खाना

21 November 2016
छत्तीसगढ़ के सुकमा में मंगलवार को करीब साढ़े तीन सौ की संख्या में नक्सलियों व नक्सल समर्थकों ने सरेंडर किया है। इनमें 57 नक्सल सदस्य और बाकी 297 नक्सल समर्थक हैं। बस्तर आईजी एसआरपी कल्लूरी के सामने सरेंडर करते हुए उन्होंने कुल 17 हथियार भी जमा किए। ये है मामला... - जिला पुुलिस सुकमा की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक खोखली माओवादी विचारधारा और शोषण, अत्याचार, भेदभाव एवं हिंसा से तंग आकर नक्सलियों व नक्सल समर्थकों ने सरेंडर किया है।57 नक्सलियों में से 15 नक्सली छत्तीसढ़ सरकार द्वारा ईनामी, 11 नक्सली एसपी द्वारा ईनामी और 7 स्थायी वारंटी हैं। इनमें 17 ने भरमार बंदूक के साथ सरेंडर किया है। यहां के हैं नक्सल समर्थक - जिन नक्सल समर्थकों ने पुलिस के सामने सरेंडर किया है उनमें केरलापाल माझीपारा के 53, पटेलपारा केरलापाल के 45, पोटमपारा के 38, बोरगुड़ा के 5, गोंदपल्ली मोसलपारा के 50, जीरमपाल के 26, जैमेर के 10, पालेम के 11, धुररास के 3, बड़ेसेट्टी के 8, धुरगुड़ा के 35, पांडूपारा के 13 लोग शामिल हैं। प्रोत्साहन राशि दी गई - इस मौके पर आईजी के अलावा सुकमा के कलेक्टर, सीआरपीएफ के डीआईजी समेत आस-पास के जिलों के कई पुलिस अफसर मौजूद थे। - सभी 57 नक्सलियों को 10-10 हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि प्रदान की गई। - कार्यक्रम में सम्मिलित नक्सलियों व नक्सल समर्थकों ने एक साथ मिलकर भोजन भी किया


पुलिस की 'सर्जिकल स्ट्राइक' में छह नक्सली ढेर, फोर्स ने जंगल में घेरकर मारा

19 November 2016
दंतेवाड़ा जिले के एसपी कमल लोचन कश्यप के मुताबिक लगातार सर्चिंग कर रही फोर्स के दो दिन बाद ये सफलता मिली। - दरअसल, 13 नवंबर को नक्सलियों के दो बड़े लीडर्स श्याम और पंकज के 40-50 नक्सलियों के साथ बुरगुम के जंगलों में होने की गुप्त सूचना मिली थी। - इसी के आधार पर अगले दिन यानी 14 नवंबर को डिस्ट्रिक्ट रिजर्व ग्रुप (डीआरजी), एसटीएफ (स्पेशल टास्क फोर्स) और सीआरपीएफ की एक ज्वाइंट टीम सर्चिंग के लिए निकली। - लगातार सर्चिंग के दौरान तीसरे दिन यानी 16 नवंबर की सुबह गोंडेरास और पेरमापारा के बीच नक्सलियों से फोर्स की मुठभेड़ हो गई। - फोर्स पूरी तैयारी से पहुंची थी। चारों ओर से सीआरपीएफ ने घेरा बना रखा था। सामने से एसटीएफ और डीआरजी के जवान मुकाबला कर रहे थे। - दोनों ओर से चार-पांच घंटे गोलीबारी होती रही। आखिरकार नक्सली फोर्स को भारी पड़ता देख जंगल की ओर भाग खड़े हुए।


आईटी छापों के विरोध में सराफा बंद नाराज कारोबारियों ने धरना भी दिया

19 November 2016
सदरबाजार में मंगलवार को इंकमटैक्स छापे के विरोध में बुधवार को रायपुर समेत छत्तीसगढ़ का सराफा कारोबार बंद रहा। सराफा कारोबारियों ने कई जगहों पर विरोध-प्रदर्शन भी किया। कारोबारियों का आरोप है कि आयकर अफसर उन्हें बेवजह परेशान कर रहे हैं। वे किसी भी कार्रवाई या नोट बंदी का विरोध नहीं कर रहे, बल्कि कार्रवाई के तरीके का विरोध कर रहे हैं। इंकम टैक्स के अफसर बार-बार कई तरह के नियम बताकर सराफा कारोबारियों को परेशान कर रहे हैं।सराफा कारोबार बंद होने की वजह से ज्वेलरी का कारोबार प्रभावित हुआ। नोटबंदी की वजह से थोड़ा बहुत जो कारोबार हो रहा था वो भी बंद रहा। रायपुर सराफा एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक गोलछा ने बताया कि कोई भी ज्वेलर्स केंद्र सरकार के नोटबंदी के फैसले का विरोध नहीं कर रहा है। यह देशहित में अच्छा फैसला है, लेकिन इंकम टैक्स के अफसरों ने मंगलवार को छापा मारने के बाद भी बेवजह कई घंटों तक दुकानों में जमे रहे। अब कारोबारियों से सीसीटीवी फुटेज मांगे जा रहे हैं, जो गलत है। सराफा कारोबारियों के साथ ऐसा व्यवहार किया जा रहा है जैसे वो कोई गलत काम कर रहे हों। इंकम टैक्स के अफसरों ने कारोबारियों को परेशान करना बंद नहीं किया तो विरोध की रणनीति आगे भी जारी रहेगी


बड़े नोट लेने से दवा डीलरों का इनकार मेडिकल स्टोर्स में खत्म होने लगीं दवाएं

19 November 2016
.पांच सौ और हजार के नोट बंद होने के बाद राजधानी समेत प्रदेशभर के दवा कारोबार में अजीब हालात पैदा हो गए हैं। मेडिकल स्टोर्स दवाई के बदले में बड़े नोट ले रहे हैं। लेकिन जब ये डीलरों या बड़े कारोबारियों के पास थोक में दवाइयां खरीदने जा रहे हैं तो वहां छोटे नोट मांगे जा रहे हैं। इसका नतीजा ये हुआ है कि हफ्तेभर में ज्यादातर मेडिकल स्टोर्स का स्टॉक खाली हो गया है। ज्यादातर दुकानों में सिर्फ दो-तीन दिन की ही दवा बची है, वह भी चुनिंदा। दवाइयां खत्म हो रही हैं, इसलिए कारोबार भी रोजाना 7 करोड़ रुपए से घटकर महज एक करोड़ रुपए के आसपास रह गया है। दवा के रिटेलरों का तो यहां तक कहना है कि डीलर बड़े नोट नहीं भी लें, अगर कुछ दिन तक दवाइयां उधार सप्लाई करेंगे तब भी दिक्कत नहीं होगी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ तो राजधानी में दो-तीन दिन बाद से ही दवाइयों का संकट शुरू हो जाएगा। अभी हालात ये हैं कि स्टोर्स में जिन दवाइयों का स्टॉक खत्म हो गया, उनके ग्राहकों को लौटना पड़ रहा है। खत्म होने वाली दवाइयों की लिस्ट भी लगातार बढ़ रही है।


एक्सचेंज की लाइन और लंबी न बैंकों से कैश न एटीएम से

18 November 2016
नोटों की किल्लत से बैंकों में अब भी लोगों की लंबी कतारें खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं। जैसे-जैसे दिन बीत रहे हैं, बैंकों में रकम जमा कराने की लाइन कम हो रही है, लेकिन नोट एक्सचेंज की लाइन हर दिन बढ़ रही है। पांच सौ रुपए की लिमिट बढ़ने के बाद यह और लंबी हो रही है। सभी बैंकों के बाहर सुबह 10 बजे से ही लोगों की भीड़ जुटनी शुरू हो जाती है। दोपहर 1 बजे के पहले ही नोट खत्म होने की बात कहकर बैंक बंद कर दिए जा रहे हैं। एसबीआई के एटीएम से अब तक रुपयों के निकलने का सिलसिला शुरू नहीं हो रहा है। इस वजह से परेशानी और बढ़ रही हैं। शहर के कुछ बैंक में अब रात में भी रुपए डाल रहे हैं, ताकि सुबह बैंकों में लगने वाली भीड़ कम हो सके। शहर के बैंकों में फिलहाल करेंसी का वितरण अपनी सुविधा के अनुसार किया जा रहा है। लोगों को साढ़े चार हजार के बजाय एक, दो और तीन हजार रुपए तक दिए जा रहे हैं। कई जगहों पर कम रकम मिलने की वजह से लोगों ने नाराजगी भी जताई, लेकिन बैंक वालों ने यह दिया कि सभी को कुछ न कुछ रुपए देने हैं इस वजह से सभी को साढ़े चार हजार रुपए नहीं दिए जा सकते हैं।


बेरिकेड लांघते ही टूट पड़ी पुलिस, कार्यकर्ता भी नहीं रहे पीछे, उछाली कुर्सी और फेंके डंडे

18 November 2016
पुलिस की लाठीचार्ज और पत्थरबाजी से 16 पुलिस कर्मियों के साथ ही छजकां के कार्यकर्ता बड़ी संख्या में घायल हुए। दुकानदारों को भी चोट लगी। सभी अस्पतालों में भर्ती किए गए हैं। इनमेंं पूर्व विधायक डीपी धृतलहरे के घुटने और छयुकां अध्यक्ष विनोद तिवारी, मेहूल मारू सहित कई लोगों के शरीर पर सीधे लाठी के चोट हैं। सीएसपी संजय ध्रुव के हाथ में चोट लगी है। प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने ड्रोन से नजर रखी। इस लाठी चार्ज में लोधीपारा अपनी दुकाने बंद कर बैठे दुकानदार और इन दुकानों के किनारे बैठे लोगों को भी पुलिस वालों ने नहीं बख्शा। इसमें से कई दुकानदार थे, कई लोगों के दुकान के साथ ही पीछे घर था। धरना प्रदर्शन देखने के लिए वे अपने दुकानों के सामने कुर्सियां लगाकर बैठे हुए थे। देर रात अमित जोगी बालाजी अस्पताल में घायलों को देखने पहुंचे।इन अस्पतालों से मिली जानकारी के मुताबिक जोगी कांग्रेस के 17 कार्यकर्ता अस्पताल में भर्ती है। 773 को गिरफ्तार किया गया


एडीजे कोर्ट से चिरमिरी को मिलेगा स्थायित्व

17 November 2016
एडीजे कोर्ट स्थापित होने पर क्षेत्र के स्थायित्व को बल मिलेगा। इससे चिरमिरी-खड़गवां के दो लाख से अधिक लोगों को लाभ मिलेगा। यह तर्क रखते हुए विधायक श्याम बिहारी जायसवाल के साथ अधिवक्ता संघ के प्रतिनिधि मंडल ने रायपुर में सीएम से मिलकर उन्हें ज्ञापन सौंपा। सीएम ने इस संबंध में लॉ सेक्रेटरी से मिलकर चर्चा करने की बात कही है। गौरतलब है कि एडीजे कोर्ट की मांग को लेकर अधिवक्ता संघ द्वारा 8 नवंबर को हल्दीबाड़ी यातायात चौक पर विरोध प्रदर्शन करते हुए चक्काजाम किया गया था। आंदोलन को अब कांग्रेस, छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस जोगी और दादू लाहिड़ी विकास समिति सहित आम नागरिकों का जमकर समर्थन मिलने लगा है। सभी मांग का समर्थन कर रहे हैं। अधिवक्ता संघ की मांग पर सीएम डॉ. रमन सिंह ने लॉ सेक्रेटरी से मिलकर चर्चा करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि इसमें कुछ तकनीकी दिक्कत आ रही है। इसके लिए हाई कोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल से मिलकर दूर करने का प्रयास किया जाएगा।।


बेटी का पेट बढ़ा तो मां हुई परेशान, पूछा तो सुनाई 7 महीने पुरानी ये कहानी

16 November 2016
यहां एक नाबालिग लड़की के साथ उसकी मुंहबोली बुआ के भतीजे ने रेप किया। घटना के सात महीने बाद यह मामला तब सामने आया जब लड़की के प्रेग्नेंट होने का पता परिजनों को चला। आरोपी के खिलाफ भानुप्रतापपुर थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है घटना अप्रैल 2016 की है। दिन-ब-दिन उसका पेट बढ़ता देख मां ने पूछताछ की तो पूरा मामला सामने आया। परिजन लड़की को लेकर अस्पताल गए फिर पुलिस स्टेशन। पुलिस ने आरोपी पर बालात्कार का मामला दर्ज कर फरार आरोपी की तलाश शुरू कर दी है


दोहे और चौपाई को पढ़ाई से जोड़ा, 6 साल में 90% साक्षर हुआ गांव

16 November 2016
राजधानी रायपुर से करीब 15 किमी की दूरी पर बसा है धनेली गांव। दोपहर का वक्त है। महिलाएं गांव के बीच में बने एक चबूतरे पर ढोल-मंजीरे के साथ रामचरितमानस का पाठ कर रही हैं। बालकांड चल रहा है। महिलाओं ने दोहा पढ़ा- धूम कुसंगति कारिख होई। लिखिअ पुरान मंजु मसि सोई॥ सोइ जल अनल अनिल संघाता। होइ जलद जग जीवन दाता॥ दोहा पूरा होते ही सब शांत हो गए। तभी एक महिला इसका अर्थ बताते हुए कहती है- जिस तरह गलत संगत की वजह से धुआं कालिख कहलाता है। अच्छी संगत में स्याही बनकर वेद-पुराण लिखने के काम आता है उसी तरह लोगों को भी पढ़े-लिखे की संगत करनी चाहिए। शिक्षा ही अच्छी संगत है। खुद पढ़िए और बच्चों को पढ़ाइए। इस तरह कई घंटे तक दोहा-चौपाइयां पढ़ने और उन्हें समझाने का सिलसिला चलता रहा। अर्थ समझाने वाली महिला तस्कीन खान हैं। गांव के ही प्राथमिक स्कूल में पढ़ाती हैं। छह साल से अास-पास के गांव के लोगों को सफाई, बीमारियों, बेटी बचाने और साक्षर होने के लिए जागरूक कर रही हैं। इनके प्रयास से 5 हजार की आबादी वाले गांव की करीब 90 फीसदी आबादी साक्षर हो गई है। हर साल 30 महिलाएं पढ़ने के लिए जुड़ रही हैं


पति की मौत के सदमे से निकल 5 हजार से शुरू किया काम, आज टर्नओवर 40 लाख

16 November 2016


टिकरापारा की फिरदौस 40 महिलाओं ऐसी महिलाओं का सहारा है जो अपने पैरों पर खड़ी हैं। फिरदौस के कारखाने में बैग सिलकर एक तरह से अपना ही कारोबार कर रही हैं। उन्हें काम के एवज में मजूरी नहीं कमीशन मिल रहा है। यहां की हर महिला की कोई न कोई दर्दभरी कहानी है। - उसके ग्रुप से लगातार महिलाएं जुड़ती जा रही हैं। समय ऐसा था जब खुद फिरदौस बेसहारा हो चुकी थी। 9 साल पहले अचानक पति उसे हमेशा के लिए छोड़कर चले गए।


चार इंच काट डाला बेटे का गला, पत्नी के सीने पर 8-10 पेचकश के वार

16 November 2016
यहां एक चिटफंड कंपनी में काम करने वाले शख्स ने अपनी पत्नी और आठ साल के बेटे को बेरहमी से मार डाला और रूम में ताला लगाकर फरार हो गया। मौके से पुलिस ने एक चिट्ठी बरामद की है जिसमें आरोपी ने लिखा है कि वह कर्ज से परेशान होने के कारण उसने यह कदम उठाया। पत्नी के सीने पर पेचकश से वार... - पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों के मुताबिक घटना शनिवार दोपहर करीब 12 बजे की है। - पुलिस के मुताबिक आरोपी संदीप गुप्ता (40) ने पत्नी अंजू गुप्ता और बेटे प्रतीक के चेहरे बांधने के बाद उन पर धारदार हथियार से वार किया। - डॉक्टरों ने बताया कि प्रतीक का गला चार इंच कटा हुआ है, सिर धड़ से बस लटका हुआ था। - अंजू का भी गला कटा हुआ है उसके सीने पर 8-10 बार पेचकश से वार किया गया है। दोनों की नसें भी काटी गई हैं।


बीएमडब्लू की नंबर प्लेट में 3 अंक, जांच के लिए रोका तो डिक्की में मिले 45 लाख

15 November 2016
तेलीबांधा थाने के पास रविवार सुबह गाड़ियों के जांच के दौरान शहर के पुराने बिल्डर प्रकाश दावड़ा की बीएमडब्ल्यू कार से 45 लाख 46 हजार नकद मिले हैं। सूटकेस को नोटों से भरा देखकर हैरान पुलिस वालों ने पैसे जब्त किए और आयकर विभाग को सूचना दे दी। आनन-फानन में टीम भी पहुंच गई। अब पैसों की जांच की जा रही है। चौक पर जांच कर रहे जवानों ने गाड़ी की नंबर प्लेट में 3 अंक देखकर रोका था। संदेह के आधार पर जांच की गई। गाड़ी रोके जाने के बाद हालांकि बिल्डर ने अपना नाम बताया लेकिन जवानों ने नहीं सुनी। ट्रैफिक और तेलीबांधा पुलिस के अफसरों ने उसी समय अफसरों को खबर दी। उनके निर्देश के बाद ही आयकर विभाग को सूचना भेजी गई। सूटकेस में 500 और 1000 के नोट हैं। सारे नोट पुराने हैं, जिन्हें चलन के बाहर किए जाने की घोषणा की जा चुकी है। पुलिस ने बताया कि बिल्डर प्रकाश दावड़ा अपनी कार से शहर की ओर आ रहे थे। थाने के पास तैनात ट्रैफिक जवान ने गाड़ी रोकी। दावड़ा ने अपना परिचय भी दिया लेकिन सिपाही सूटकेस की जांच करने पर अड़ा रहा। उसने सूटकेस को कार से बाहर निकाला और खोलकर देखा तो उसमें 500 व हजार के नोट थे।

 

 


हादसों में घायल 55 गायों को इलाज से बचाया, पूरी पेंशन इसी में खर्च कर रहा ये परिवार

14 November 2016
कांशीराम नगर के पास 55 साल की रेणुका सोनवाने और उनका परिवार पिछले 16 साल से उन मवेशियों खासकर गायों और कुत्तों की देखरेख कर रहा है, जो हादसों में बुरी तरह जख्मी हो जाते हैं। परिवार ऐसे जानवरों का न सिर्फ अपने बच्चों की तरह इलाज कर रहा है, बल्कि कुछ दिन में इन्हें तंदुरुस्त भी बना रहा है। रेणुका ने जिन 55 गाय-बैल और कुत्तों का इलाज कर उन्हें ठीक किया, एक भी उन्हें छोड़कर नहीं जा रहे हैं। इस वजह से उनके पति की पूरी पेंशन ही इस काम में खर्च हो रही है और बेटा भी माता-पिता की इस नेक पहल में साथ दे रहा है। रेणुका की सुबह 6 बजे से होती है। घरेलू काम से पहले वे इन पशुओं के लिए बनाई गई अस्थायी गौशाला में आ जाती हैं। साफ-सफाई, खाना-दवा और मलहम-पट्टी के बाद रात 9 बजे अपने घर लौटती हैं। पिछले 16 साल से यही चला आ रहा है। मौसम, सुख-दुख और बीमारी जैसी कोई बाधा उन्हें एक दिन भी यहां आने से नहीं रोक पाई हैं। उनकी पहल और समर्पण की बातें इस तरह फैली हैं कि राजधानी के तमाम वेटनरी डाक्टर और पशु प्रेमी भी उनके साथ जुड़ गए हैं। हादसे में घायल किसी भी पशु को वे उनके पास छोड़ जाते हैं। रेणुका बताती हैं कि ऐसे-ऐसे जानवर स्वस्थ हो चुके हैं, जिनके बचने की उम्मीद ही नहीं थी।



बच्चों की जिद ने बड़ों को शौचालय बनवाने और डस्टबिन में कूड़ा डालने किया मजबूर

14 November 2016
छोटी सी उम्र में जहां बच्चे स्वयं का काम भी सही तरीके से नहीं कर पाते हैं, ऐसी उम्र में वे शहर व अपने गांव को स्वच्छ रखने की जिम्मेदारी उठा रहे हैं। बच्चों की इसी जिद ने बड़ों को घरों में शौचालय बनवाने की सीख मिली। वहीं डस्टबिन में कूड़ा डालने को मजबूर कर दिया है। यह बच्चों की अच्छी जिद का ही नतीजा है, जो शहर व गांवों की तस्वीर बदलने लगी है। स्वच्छता और घरों में शौचालय बनवाने के अलावा बच्चों ने पानी सहेजने को लेकर भी लोगों को जागरूक करने का काम किया है। पंडरिया और बोड़ला ब्लॉक के दूरस्थ पहाड़ी गांवों में युवाओं के साथ मिलकर कुंड बनाए हैं। इस कृत्रिम कुंड में पहाड़ों का पानी रिसकर भर जाता है। इससे इलाके के बैगा-आदिवासियों की पेयजल समस्या काफी हद तक दूर हो गई है। बच्चों की इस जिद से बड़ों को भी सबक लेने की जरूरत है। उल्लेखनीय है कि कबीरधाम जिले में सूखे के कारण इस बार भी पानी की समस्या हुई थी। इस लिहाज से जागरूकता लाना जरूरी है।


आईआईटी कहीं न चला जाए इसलिए उससे जुड़ी फाइल पर नहीं किए हस्ताक्षर: प्रेमप्रकाश

12 November 2016
.आईआईटी को भिलाई में लाने के लिए उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री प्रेमप्रकाश पांडेय ने एक साल तक इससे संबंधित फाइल पर हस्ताक्षर नहीं किया। उन्हें इस बात की चिंता थी कि, कहीं आईआईटी की स्थापना रायपुर में न हो जाए। इसीलिए इससे संबंधित जरूरी फाइल को उन्होंने एक साल तक रोककर रखा। ये बातें मंत्री प्रेमप्रकाश पांडेय के अलावा किसी को पता नहीं थी। इसका खुलासा उन्होंने रविवार को भिलाई में पत्रकारों से बातचीत करते हुए किया। जानिए, इन कार्यों से खासे नाराज हैं मंत्री पांडेय सफाई: शहर में सफाई व्यवस्था दुरुस्त नहीं है। कौन क्या कर रहा है? यह समझ ही नहीं आ रहा है। कचरा उठाने के लिए कोई प्रॉपर सिस्टम नहीं है। कचरा प्रोसेसिंग के लिए कुछ बड़ा करने वाले हैं। लेकिन अभी रूटीन व्यवस्था को दुरुस्त करना चाहिए।

 

 


एक दिन में 79 हजार केस निपटे, 27 करोड़ का आदेश

11 November 2016
राष्ट्रीय लोक अदालत में शनिवार को एक दिन में 79 हजार 743 केस की सुनवाई की गई। इसमें बीमा, लेने-देन, फोरम और मजदूरी संबंधित मामलों की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने 27 करोड़ रुपए भुगतान करने का आदेश दिया है। पैसे के लिए सालों से कई परिवार कोर्ट से चक्कर काट रहे थे। बीमा कंपनियां भी पैसा नहीं दे रही थी। कोर्ट के आदेश के बाद कई परिवार खुशी-खुशी अपने घर लौटे। कोर्ट में पति-पत्नी विवाद संबंधित केस आए थे। इसमें कुछ मामलों में पुलिस ने समझौता कराकर केस का निराकरण किया। रायपुर कोर्ट में शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया। अलग-अलग मामलों के सुनवाई के लिए 53 खंडपीठ बनाए गए थे। सुबह 10:30 बजे सुनवाई शुरू हुई। बीमा संबंधित 102 केस की सुनवाई गई। इसमें कुछ बीमा कंपनी को भुगतान नहीं करने पर कोर्ट ने फटकार लगाई। श्रम संबंधित 90 केस, फोरम के 8 केस समेत अन्य केस की सुनवाई करते हुए 27 करोड़ रुपए का एवार्ड किया गया है। कुटुंब न्यायालय में घरेलू विवाद के 34 केस आए थे। इसमें 11 परिवार टूटने से बच गया।


वित्त मंत्रालय से तिफरा फ्लाई ओवर को हरी झंडी, कमेटी को भेजा प्रपोजल

11 November 2016
.तिफरा फ्लाई ओवर को वित्त मंत्रालय से हरी झंडी मिल गई है। फ्लाई ओवर की फाइल वित्तीय स्वीकृति के बाद अब प्रोजेक्ट फॉर्मुलेशन एंड इंप्लीमेंटेशन कमेटी के पास भेज दी गई है। 50 करोड़ रुपए से अधिक की लागत वाले प्रोजेक्ट की मंजूरी इस कमेटी से आवश्यक होती है। कमेटी के अध्यक्ष मुख्य सचिव विवेक ढांढ हैं। फ्लाई ओवर की लागत 85 करोड़ रुपए के लगभग आएगी। जेपी वर्मा कॉलेज से महाराणा प्रताप चौक होते हुए तिफरा नगर पंचायत कार्यालय तक प्रस्तावित 1.53 किलोमीटर लंबे तिफरा फ्लाई ओवर को नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल की सहमति के बाद वित्त मंत्रालय ने भी वित्तीय मंजूरी दे दी है। सहमति के बाद मुख्य सचिव की अध्यक्षता वाली पीएफआईसी की मंजूरी के लिए इसे भेज दिया गया है। कमेटी की बैठक अगले सप्ताह राजधानी में हाेने की संभावना है। चूंकि प्रोजेक्ट 50 करोड़ रुपए से अधिक का है, इसलिए इस कमेटी की मंजूरी आवश्यक है। इस प्रोजेक्ट का जीएडी कंसल्टेंट भावे एंड एसोसिएट्स कंपनी ने तैयार किया है।


बैंक खुलते ही घुसे लुटेरे, स्टाफ को बंधक बनाया और बोरे में भरकर ले गए रुपए

11 November 2016
यहां टीपीनगर स्थित केनरा बैंक में आज सुबह-सुबह डकैती हो गई। बैंक खुलते ही चार-पांच अज्ञात लोग पहुंचे और अंदर से गेट बंद कर स्टाफ को स्ट्रांग रूम में बंधक बना लिया। स्टाफ जब तक कुछ समझ पाते, डकैतों ने बोरे में 37 लाख रुपए भरे और गेट खोलकर फरार हो गए। बैंक में नहीं थे ज्यादा कस्टमर.. - घटना करीब साढ़े 10 बजे की है। उस समय बैंक में ज्यादा कस्टमर भी नहीं थे।स्टाफ अपनी वर्किंग शुरू करने की तैयारी में जुटे थे। तभी डकैत अंदर घुसे - हथियारबंद डकैतों ने कैशियर को धमकाकर कैश की जानकारी ली और बोरों में रुपए भरकर चलते बने। सीसीटीवी का टीसीआर ले भागे - डकैत बैंक में लगी सीसीटीवी का टीसीआर भी अपने साथ ले गए हैं। - महज 300 दूर स्थित सीएसईबी पुलिस चौकी को जब सूचना मिली तब तक लुटेरे फरार हो चुके थे। - मौके पर एसपी सहित कई पुलिस अफसर पहुंचे और घटना की पुरी जानकारी ली। - डकैतों को पकड़ने के लिए पूरे शहर में नाकेबंदी कर जांच की जा रही है। - स्टाफ से पूछताछ की जा रही है। अब तक कोई क्लू नहीं मिला है


नदी पर बने रपटे से फिसली ट्रैक्टर ट्राली, जान बचाने कूदे 10 में से मां-बेटी की मौत

11 November 2016
बेरला ब्लॉक के अंतर्गत रांका के पास बेमेतरा जाने वाले मार्ग में शिवनाथ नदी पर बने एनीकट को पार करते हुए ट्रैक्टर ट्राली फिसल गई। जान बचाने के लिए उसमें सवार 17 लोगों में से 10 महिलाएं नदी में कूद गईं। इनमें मां अंसी लोधी पति जगन्नाथ (55) व बेटी पद्ममिनी लोधी पति निरंजन (35) की डूबने से मौत हो गई, जबकि 8 महिलाएं घायल हैं। एक की लाश आधे किमी तो दूसरी की 3 किमी पर मिली...
ट्रैक्टर में सवार सभी लोगों को बेमेतरा जाना था। लेकिन कवर्धा-बेमेतरा मार्ग के निर्माणाधीन होने के कारण ट्रैक्टर चालक ने शार्टकट रास्ते से रांका-बेमेतरा मार्ग से बेमेतरा पहुंचने की योजना बनाई। - यही शार्टकट यात्रियों के लिए महंगा साबित हुए। ट्रैक्टर चालक रांका-बेमेतरा मार्ग में आगे बढ़ा तभी रास्ते में यह रपटा नजर आया। इस पर से पानी करीब डेढ़ फीट ऊपर चल रहा था। एक की लाश आधे किमी तो दूसरी की 3 किमी पर मिली - नदी में डूबने से जिन दो महिलाओं की मौत हो गई, वे मां-बेटी बताई जाती हैं। हादसे में खैरझिटी की रहने वाली अंसी लोधी (55) और मोतेसरा निवासी उसकी बेटी पद्मिनी लोधी (35) की मौत हो गई। - घटना के करीब आधे घंटे बाद ढाई बजे पद्मिनी की लाश नदी में आधे किलोमीटर आगे मिली। जबकि अंसी का शव घटना के दो घंटे बाद शाम 4 बजे नदी से करीब 3 किलोमीटर आगे ग्राम सिंगदेही के पास मिला।


प्रदेश की पहली वुमन पेट्रोलिंग टीम, महिलाओं के मूवमेंट एरिया पर होगा फोकस

11 November 2016


शहर में 1 अक्टूबर नवरात्रि से महिला पुलिस का दस्ता पेट्रोलिंग करेगा। दस्ते में केवल महिला पुलिस अधिकारी और स्टाफ रहेगा। उनकी पेट्रोलिंग गाड़ी अलग होगी, जिसमें 100 और महिला हेल्प लाइन नंबर भी लिखा होगा। महिलाओं से संबंधित अपराध की सूचना मिलने पर बाकी टीमों के साथ महिला पेट्रोलिंग की टीम भी तुरंत वहां पहुंचेगी। महिला पुलिस दस्ते का लोकेशन स्कूल, कॉलेज, कोचिंग सेंटर और ट्यूशन सेंटरों के पास ज्यादा रहेगा। - पार्क, मॉल और मार्केट एरिया में भी नियमित गश्त करेगी। इसके अलावा महिला पेट्रोलिंग वहां ज्यादा होगी जहां महिलाओं और युवतियों का आना-जाना ज्यादा रहता है। उसका पूरा प्लान तैयार कर लिया गया है। की जा रही है।


छत्तीसगढ़ के जूनियर खिलाड़ी शिवाक्ष एशियन चैंपियनशिप खेलने वाले पहले स्विमर

11 November 2016
छत्तीसगढ़ के जूनियर तैराक शिवाक्ष साहू को एशियन जूनियर स्विमिंग चैंपियनशिप के लिए भारतीय टीम में जगह मिली है। टीम में जगह बनाने वाले वे राज्य के पहले तैराक हैं। टूर्नामेंट के मुकाबले नवंबर में टोक्यो में खेले जाने हैं। इसके अलावा शिवाक्ष नवंबर में ही श्रीलंका में होने वाले साउथ एशियन चैंपियनशिप में भी उतरेंगे। - पिछले दो साल से बेंगलुरु में ट्रेनिंग ले रहे शिवाक्ष का सलेक्शन जूनियर नेशनल इवेंट में पांच मेडल जीतने पर हुआ। - खिलाड़ी ने 5 से 9 जुलाई तक बेंगलुरु में हुए इवेंट में एक गोल्ड, तीन सिल्वर और एक ब्रॉन्ज मेडल जीता था। शिवाक्ष ने 200 मीटर बटरफ्लाई में गोल्ड जीता। - 200 मीटर फ्री स्टाइल, 200 मीटर इंडिविजुअल मेडले और 400 मीटर इंडिविजुअल मेडले में वे सिल्वर जीतने में सफल रहे। इसके अलावा खिलाड़ी ने 100 बटर फ्लाई इवेंट में ब्रॉन्ज पर कब्जा किया।

 


गर्भ में मरे बच्चे को लेकर 14 घंटे में 5 हॉस्पिटल भटकी, इलाज न मिलने से मौत

11 November 2016
पहली बार मां बनने जा रही की शहर की एक महिला को यह अहसास ही नहीं हुआ कि उसके गर्भ में पिछले कुछ दिनों से कोई हलचल नहीं हो रही है। जब वह सीरियस हुई, तब डॉक्टर ने सोनोग्राफी करवाई और पता चला कि उसका बच्चा गर्भ में ही एक सप्ताह पहले चल बसा है। अब उसकी जान को खतरा है। गरीब परिजन एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल इलाज की आस में भटकते रहे और आखिरकार उसने दम तोड़ दिया। - गुलाब दास महंत (40) जिला मुख्यालय कोरबा से 70 किलोमीटर दूर बासीन गांव का रहने वाला है। उसकी पहली पत्नी उसे छोड़कर चली गई। तब उसने गांव की ही सरस्वती के साथ घर बसा लिया।



राजधानी में प्रदूषण कम करने के लिए 44 रोलिंग मिलों पर लगाया ताला

11 November 2016
.शहर के प्रदूषण को कम करने की दिशा में काम करते हुए सरकार ने 44 रोलिंग मिल्स को बंद कर दिया गया है। छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण मंडल ने यह आदेश जारी किया है। यह फैसला ऑनलाइन इमीशन मॉनिटरिंग सिस्टम नहीं लगाने के मामले में किया गया है। सभी मिल्स की बिजली काटने के निर्देश भी दिए गए हैं। छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण मंडल ने इसे प्रदूषण नियंत्रण पर कोई समझौता ना करने के शासन के निर्देशों को महत्वपूर्ण माना जा रहा है। प्रदूषण फैलाने वाले उद्योगों के खिलाफ यह अब तक की गई सबसे बड़ी कार्रवाई है। मंडल द्वारा सोमवार को राजधानी में छत्तीसगढ़ इंफार्मेशन एण्ड प्रमोशन सोसायटी में आवास एवं पर्यावरण विभाग के प्रमुख सचिव अमन सिंह ने बैठक ली। इसमें निर्णय लिया गया कि शहरी क्षेत्रों में वाहनों से हो रहे प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए हुए यातायात एवं पुलिस विभाग मिलकर वाहन प्रदूषण मापन का कार्य प्रारंभ करें। यह तय करें कि 31 दिसंबर तक सारे गाड़ियों के प्रदूषण की जांच हो जाए। रायपुर शहर के आस-पास संचालित ढाबों में कोयला जलाये जाने से पर्यावरण को हो रही क्षति पर चर्चा हुई। जिसमें यह निर्णय लिया गया कि इसकी जांच के लिये


धूल से त्रस्त, रोका रास्ता, रात तक डटे रहे

10 November 2016
धूल से परेशान खोखली मार्ग पर नाराज लोगों ने मंगलवार की शाम 5 बजे अचानक चक्काजाम कर दिया। लोगों का कहना है कि यहां रहना ही मुश्किल हो गया है। रास्ता जाम होने से इधर से निकलने वाले कई वाहन चालकों को परेशान होना पड़ा। खबर लिखे जाने तक रात 10 बजे तक भी लोग चक्काजाम किए हुए थे। इस बात की जानकारी के बाद भी किसी जिम्मेदार अधिकारी के मौके पर नहीं पहुंचने से भी लोग नाराज दिखे। सड़क बंद कर दिए जाने से सुहेला तरफ से आने वाले वाहनों को और शहर से बाहर तरफ जाने वाले वाहन वाले 6-7 किमी का ज्यादा चक्कर लगाकर तरेंगा होकर जाने लगे थे। इधर, चक्काजाम कर रहे नाराज लोगों का कहना ता कि इस मार्ग पर जबतक पक्की सड़क नहीं बन जाती, तब तक ठेकेदार उक्त सड़क पर पानी का छिड़काव कर धूल उड़ने से रोके। सेंट मेरी खोखली मार्ग में भारी वाहनों की आवाजाही से उड़ रहे धूल के गुबार से आसपास के रहवासियों सहित इस मार्ग के राहगीरों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।


पीड़ितों ने कहा- मुआवजे का आधा पैसा नक्सली ले गए

9 November 2016
.सुकमा जिले के ताड़मेटला इलाके के तीन गांवों में मार्च 2012 में नक्सलियों और पुलिस के बीच हुई मुठभेड़ के बाद घरों में हुई आगजनी के पीडितों की मुआवजे की आधी रकम नक्सली ले गए थे। ये बयान पीड़ितों ने टीएमटीडी न्यायिक आयोग के अध्यक्ष जस्टिस टीपी शर्मा के सामने दोहराया। आयोग उनसे बात कर रहा था, जिनके घर जलाए गए थे। इनमें दो ताड़मेटला और एक मोरपल्ली की रहने वाली महिला भी थी। आगजनी का आरोप पुलिस नक्सली पर और नक्सली पुलिस पर लगाते आए हैं। आयोग के सामने ग्रामीणों ने लगभग एक जैसे ही बयान दिए। उनका कहना था कि नक्सली गांव में आए और ग्रामीणों से कहा कि पुलिस आ रही है, तुरंत गांव खाली कर दो। वे जंगल की ओर चले गए, शाम को लौटे तो उनके घर जलाए जा चुके थे। गांव में मौजूद नक्सलियों ने उनसे कहा कि पुलिस ने उनके घरों को जला दिया है।


पैसे निकाले लेकिन खजूरपदर गांव में कई शौचालय हैं आधे-अधूरे

9 November 2016
आदिवासी ब्लॉक मुख्यालय से लगभग 80 किमी दूर ग्राम पंचायत खजूरपदर में स्वच्छ भारत मिशन के तहत बनाए गए 90 शौचालय में ज्यादातर में दरवाजे नहीं होने से ग्रामीण दिक्कतों का सामना करने को मजबूर है। पंचायत प्रतिनिधियों की निष्क्रियता के चलते शौचालय में दरवाजे नहीं लगाए जाने से परदा लगाकर ग्रामीण इसका उपयोग कर रहे हैं। मुसीबत तो यह है कि ग्राम पंचायत के जिम्मेदार पूर्व सरपंच व सचिव ने स्वीकृत शौचालयों में से आधे अधूरे शौचालयों का निर्माण कर अपने हाथ खड़े कर दिए हैं, जिसका खामियाजा ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। ग्रामीणों के विरोध के बाद पंचायत सचिव ने किसी तरह 10 शौचालय की दीवार तो खड़ा करवा दी। लेकिन उसे अब तक पूर्ण नहीं कराया गया है। कई शौचालयों में दरवाजे, शीट, छप्पर का अभाव है। जबकि वर्तमान में स्थिति यह हो गई है कि ग्रामीण किसी तरह अधूरे पड़े शौचालय में परदा लगाकर शौच जाने को मजबूर हैं। ग्रामीणों का कहना है कि जिम्मेदार अधिकारियों के पास दरवाजे, छप्पर व शीट लगवाने की मांग कई बार की जा चुकी है। लेकिन उनकी शिकायत के बाद भी आज तक मामले में कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है। ग्रामीण हिरण प्रधान बताता हैं कि अधिकारियों के उदासीन रवैये के चलते ही सचिव पर कार्रवाई नहीं हो पाई है। इस संबंध में सरपंच येपेश्वर नागेश ने बताया कि वर्ष 2012-13 में पूर्व सरपंच विमला बाई मरकाम के कार्यकाल में करीब 90 शौचालय निर्माण निर्मल भारत योजना के अन्तर्गत किया जाना था। वहीं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग से खजूरपदर को करीब 50 प्रतिशत शौचालय की राशि लगभग साढ़े चार लाख रुपए जारी किया गया था, शेष राशि शौचालय का काम पूरा होने के बाद देने की बात कही गई थी।


दो विधवा महिलाओं ने लोगों से फटी पुरानी साड़ियां मांगकर 15 साल पहले

9 November 2016
रायपुर. छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा के मुलमुला थाने में पुलिस की कथित पिटाई से मौत के मामले में दूसरे दिन पुलिस का क्रूर चेहरा भी सामने आया है। जांच में यह बात सामने अाई है कि कस्टडी में सतीश की पिटाई के दौरान खून की उल्टी हुई तो पुलिस ने उसके 10 साल के बेटे से ही थाना कैंपस की सफाई कराई। जानें क्या है पूरा मामला... बेटे से मांगा पानी और पिटाई की बात बताई - मुलमुला थाना क्षेत्र के ग्राम नरियरा के सागरपारा मोहल्ले में पिछले 4 दिनों से ट्रांसफार्मर खराब है, जिसके कारण इलाके की बिजली बंद थी। - शुक्रवार को कुछ लोग बिजली विभाग के दफ्तर गए थे तो कर्मचारियों ने शनिवार की सुबह 10 बजे तक बिजली आने की जानकारी दी। - लेकिन जब तय वक्त पर बिजली सप्लाई चालू नहीं हुई तो मोहल्ले का 35 साल का दलित युवक सतीश कुमार नोर्गे अपने दो दोस्तों के साथ दफ्तर जा पहुंचा। - दफ्तर में उस वक्त जेई सक्सेना ड्यूटी पर थे। युवकों ने बिजली बहाल नहीं होने पर जानकारी मांगी और ऊपर के दफ्तर में जाकर शिकायत करने की बात कही। इस वजह से बात बढ़ गई।


ऑनलाइन शॉपिंग से मंगाया मोबाइल डिलीवरी एजेंट ने छोड़ा खाली डिब्बा

9 November 2016
.ऑनलाइन शॉपिंग से मंगाए मोबाइल को रास्ते में निकालकर खाली डिब्बा डिलवरी करने वाले एजेंट और उसके दो दोस्तों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी ऑनलाइन शॉपिंग से मंगाए मोबाइल को दुकान से उठाकर डिलवरी करने निकलते थे। महंगे मोबाइल को निकालकर उसमें सस्ते मोबाइल या कागज के पुलिंदे डाल देते थे। लगातार मिल रही ग्राहकों की शिकायत के बाद मोबाइल दुकान के संचालक ने पुलिस में शिकायत की। जांच के बाद आरोपियों को पकड़ लिया गया।पुलिस अफसरों ने बताया कि मां शारदा मोबाइल में अमेजन से ऑनलाइन मंगाए गए फोन की डिलवरी की जाती थी। कालीबाड़ी में रहने वाला शंकर सोनी डिलीवरी एजेंट का काम करता था। ऑनलाइन आने वाले वह दुकान से मोबाइल लेकर निकलता था। महंगा मोबाइल होने पर उसे बीच रास्ते में निकाल लेता था। उसे अपने दोस्त राहुल ठाकुर और 13 साल के एक दोस्त को दे देता। वे उसे आधे दाम में बेच देते। आरोपियों ने आधा दर्जन मोबाइल की चोरी की है। ग्राहकों ने दुकान में शिकायत की। पुलिस ने बताया कि आरोपियों के पास से दो मोबाइल जब्त किया है।


राजधानी में फिर आने लगी नम हवा, बादल छाए रहने के आसार

7 November 2016
समुद्र से बड़ी मात्रा में आ रही नमी की वजह से प्रदेश में कहीं-कहीं पर हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। अगले दो दिनों तक यह स्थिति रहेगी। इसके बाद मौसम खुलने की संभावना है, जिससे ठंड बढ़ेगी। नमी की वजह से एक तरफ राज्यभर में ठंड कम हो गई है। ज्यादातर जगहों पर रात का तापमान सामान्य से ज्यादा पहुंच गया है। राजधानी में ही यह 21.4 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से तीन डिग्री अधिक है। - शहर में सुबह के समय वातावरण में आर्द्रता 81 फीसदी थी। दिन में कई समय आसमान में बादल छाए रहे। यह शाम तक घटकर 61 फीसदी रह गई। तापमान सामान्य से तीन डिग्री अधिक है। - इस वजह से रात में ज्यादा ठंड भी महसूस नहीं हुई। इधर, राज्य के अन्य शहरों में भी स्थिति यही रही। - बिलासपुर, अंबिकापुर, पेंड्रारोड और जगदलपुर में तापमान 17 से 20 डिग्री के बीच दर्ज किया गया। सभी जगह तापमान सामान्य से दो से तीन डिग्री अधिक है। - मौसम विज्ञानियों के अनुसार नमी की वजह से प्रदेश में अगले 24 घंटे के दौरान कहीं-कहीं पर हल्की से मध्यम बारिश या गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है।


धनुष लेकर उठता और सोता है 15 साल का अभिलाष, 13 गोल्ड विजेता का आज सम्मान

7 November 2016
शनिवार को 20 हस्तियों को राज्य अलंकरण सम्मान से नवाजा जाएगा। इनमें एक नाम बिलासपुर के शिवतराई गांव का 15 साल के अभिलाष भी है। उसे इस साल खेल के लिए प्रवीरचंद भंजदेव सम्मान दिया जाएगा। उसकी सुबह भी धनुष के साथ होती है रात भी। वह धनुष लेकर ही सोता है। उसने अब तक स्कूल नेशनल और ओपन में 13 गोल्ड जीत चुका है। उसके पिता इतवारी जो सुरक्षा बटालियन रायपुर में प्रधान आरक्षक हैं। वे अपने बच्चे के साथ शिवतराई को तीरंदाजी का गढ़ बना दिया है। यहां हर लड़का-लड़की अर्जुन की तरह तीरंदाज बनने में लगे हुए हैं। इतना ही नहीं इतवारी पिछले 10 साल से यहां अपनी नौकरी से छुट्टी लेकर बच्चों को ट्रेनिंग देते हैं। न तो उन्हें इसके लिए कोई मानदेय मिलता है न ही किसी तरह की अन्य सुविधा। वे बताते हैं कि सम्मान के चयनित अभिलाष 6 साल की उम्र से उनके साथ ही अभ्यास के लिए जा रहा है। उसने न तो कभी क्रिकेट खेला है न ही फुटबाल


लेबर इंस्पेक्टर अब कहीं भी कर सकेंगे जांच, 100 कर्मचारियों वाली संस्थाओं में जांच नहीं

5 November 2016
राज्य के श्रम विभाग प्रदेश के उद्योगों व कामकाजी संस्थाओं को लेबर इंस्पेक्टर राज से मुक्त कर दिया है। अब श्रम निरीक्षक किसी भी संस्था में बिना सूचना के नहीं जा सकेंगे। यानी उनके कार्यक्षेत्र की भौगोलिक सीमाएं खत्म कर दी गई हैं। अब वे राज्य में कहीं भी जाकर जांच कर सकेंगे। यह व्यवस्था आज से ही लागू मानी जाएगी। - श्रम विभाग के नए नियमों के अनुसार ऐसे उद्योग या संस्थाएं, जहां 100 या कम कर्मचारी काम करते हैं, श्रम विभाग की जांच के दायरे से बाहर होंगे। - इसमें स्कूल, अस्पताल, मॉल, होटल्स, छोटे कारखानों समेत कई संस्थाओं को बड़ी राहत मिलेगी। 101 से 150 तक स्टाफ वाले कारखानों या फर्मों में जांच तो होगी, लेकिन वह भी केवल 5 प्रतिशत तक। - इसकी भी पूरी जानकारी कंप्यूटर पर अपलोड होगी। अब यदि कोई लेबर इंस्पेक्टर किसी संस्था या फैक्ट्री में जांच करने जाएंगा तो उसे पहले से सूचना देनी होगी। यह सूचना ऑनलाइन उस फर्म तक जाएगी। - श्रम आयुक्त को भी यह जानकारी दी जाएगी। जांच के बाद जो भी तथ्य सामने आएंगे, उसकी रिपोर्ट लेबर इंस्पेक्टर को उसे श्रम विभाग के बेव पोर्टल पर डालना होगा।


मोदी का चाय बनाना भारत का अपमान: शंकराचार्य

30 January 2015
रायपुर। अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा चाय बनाकर पिलाना भारत का अपमान है। यह बात जगदगुरू शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने गुरूवार को बालाजीपुरम में आयोजित धर्म संसद के दौरान पत्रकारों से चर्चा में कही। उन्होंने कहा कि भले ही नरेन्द्र मोदी पहले गरीब थे और चाय बेचते थे, लेकिन अब प्रधानमंत्री के रूप में भारत हो गए हैं और ओबामा अमेरिकन हैं। भारत इतना गरीब देश नहीं है कि वो ओबामा को चाय बनाकर पिलाए, यह अपमान किया है।
एक सवाल के जवाब में शंकराचार्य ने कहा कि ओबामा हमें नसीहत न दें बल्कि पहले अपने धर्मगुरू को धर्म के आधार पर बंटवारे का प्रचार करने से रोकें। साई बाबा को लेकर शंकराचार्य ने कहा कि साई न तो ईश्वर है, न संत है और ना ही गुरू है। हिन्दुओं को साई के नाम पर फैलाये जा रहे पाखंड से बचना होगा तभी सनातन धर्म की रक्षा होगी।

शिवराज पर साधा निशाना

प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के नव वर्ष पर शिरडी जाने को लेकर भी शंकराचार्य ने उन्हें आड़े हाथों लिया है। मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि शिरडी जाने से भले ही वे देश के प्रधानमंत्री बन जाएं, लेकिन उनका परलोक नहीं सुधर सकता।

अपमान कर रहीं फिल्में

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद ने देश में हिन्दू धर्म का खिलवाड़ करने वाली फिल्मों को लेकर सेंसर बोर्ड को आ़़डे हाथों ले लिया। उन्होंने कहा कि सेंसर बोर्ड कुछ लेकर ऐसी फिल्मों को अनुमति दे रहा है जो हिन्दू धर्म का अपमान कर रहीं हैं। उन्होंने कहा कि साई को लेकर मनोज कुमार ने जो फिल्म बनाई थी उसी से भ्रम फैलना प्रारंभ हो गया था।

शंकराचार्य की बात न सुनने वाले हिन्दू नहीं

बालाजीपुरम में साई विवाद को लेकर आयोजित धर्म संसद में गुरवार को सभी ने पुरजोर तरीके से साई पूजा बंद करने की बात कही। हिंगलाज सेना के प्रदेश अध्यक्ष सोमेश परसाई ने कहा कि शंकराचार्य का आदेश न मानने वाले हिन्दू नहीं हो सकते। लेखक अजय गौतम ने कहा कि जिस तरह से देश में बीते कई वर्षो से पोलियो मिटाने का अभियान चल रहा है उसी तरह शंकराचार्य जी साई बीमारी को पूरे विश्व से दूर करने के लिये जुटे हुए हैं।
पाटन की पूर्व विधायक कल्याणी पांडे ने कहा कि साई पूजा का विरोध करने पर शंकराचार्य स्वामी के पुतले फूंके जा रहे हैं। इससे हमारा भी खून खौल रहा है लेकिन शंकराचार्य जी का कहना है कि यह वैचारिक क्रांति है और इसका मुकाबला भी उसी तरीके से किया जाना है। कलाकार दीपा ने धर्म संसद में कहा कि साई गंगा को अपवित्र बताते थे जबकि हिन्दू पूजा करते हैं। ऐसी कुरीतियों को हमें मिलकर हिन्दू समाज से दूर करना होगा।
धर्म संसद में बालाजीपुरम के संस्थापक सैम वर्मा ने कहा कि वे अपने पूर्वजों के द्वारा दिये गए संस्कारों के आधार पर धर्म की रक्षा करने का दायित्व निभा रहे हैं। बालाजीपुरम में अज्ञानतावश 12 साल पहले साई बाबा की प्रतिमा स्थापित कर पूजा अर्चना की जा रही थी। जैसे ही धर्म संसद ने साई पूजा का फैसला लिया हमने भी पूजा बंद कर दी और मंदिर हटा दिया गया।

बाबाओं पर साधा निशाना

बालाजीपुरम में आयोजित धर्म संसद में पहुंचे शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद ने किसी का नाम लिये बगैर कहा कि जो घर-बार नहीं छोड़ सकते वे कैसे संत कहलाने के लायक हैं। संत तो समाज के कल्याण के लिये सब कुछ छोड़ देते हैं। एक बाबा के द्वारा फिल्म बनाने के बारे में भी उन्होंने इशारे में कहा कि वे कहते हैं कि हम सर्वधर्म को मानते हैं। एक साथ दो धर्मो का पालन कोई कर ही नहीं सकता है।


गैस सिलेंडर के वजन से छले जा रहे उपभोक्ता

30 January 2015
महासमुंद. शहर की दो में से एक भी गैस एजेंसी उपभोक्ता को देते वक्त सिलेंडर का वजन नहीं कर रही हैं। डिलीवरी देने वाले हॉकरों को तौल कांटा ही नहीं दिया है। तौल की मांग करने पर भी वजन नहीं किया जाता। जिला मुख्यालय में पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय के निर्देशों की धज्जियां उड़ाई जा रही है।
शहर में इंडेन गैस की दो एजेंसी हैं। करीब १५-२० हजार उपभोक्ता हैं। तौल के संबंध में पूछे जाने पर जिम्मेदार बगलें झांकने लगे। हॉकरों के पास तौल कांटा ही नहीं है। यही नहीं, तौल कांटा सिलेंडर से लदी गाडिय़ों में नहीं रहती है। उपभोक्ताओं को जागरूक करने समय-समय पर अभियान भी चलाया जाता रहा है। जिसमें सिलेंडर लेते वक्त वजन और सावधानियों के बारे में बताया जाता है। सूचना, शिकायतें, प्रश्न के लिए टोल फ्री नंबर 1800-233-3६६३ है, यह भी कारगर साबित नहीं हो रहा है। सीधे तौर पर कहा जाए, तो शहर में कभी भी सिलेंडर वजन करने की परंपरा एजेंसियों ने नहीं डाली। साइकिल और बाइक से सिलेंडर पहुंचाए जाते हैं।

समय से पहले खत्म हो जाती है गैस

हॉकरों के पास वजन करने का कुछ होता नहीं है। वजन करने कहने पर टंकी की सील दिखाते हुए सिलेंडर थमाकर चले जाते हैं। समय से पहले सिलेंडर में गैस खत्म हो जाती है, तो यही अंदेशा बना रहता है कि उपयोग अधिक हुआ या गैस कम थी, इस उहापोह की स्थिति में उपभोक्ताओं का माथा खनकता रहता है। खुलकर विरोध भी नहीं कर पाते। शायद यही वजह है कि, गैस एजेंसी अपनी मनमानी से बाज नहीं आ रहे हैं। और बिना तौले थमा रहे हैं।


टॉयलेट साफ नहीं किया, चपरासी ने छात्र को बेहोश होते तक पीटा

30 January 2015
रायपुर। प्रदेश के धुर नक्सल प्रभावित इलाके में स्थित इडजेपाल आश्रम में पढऩे वाले कक्षा तीसरी के एक छात्र को आश्रम के चपरासी ने इतना पीटा कि वह मौके पर ही बेहोश हो गया। जैसे-तैसे उसके साथियों ने उसे पानी डालकर उसे होश में लाया तो चपरासी ने उसकी फिर से पिटाई की। छात्र को इतना सिर्फ इसलिए पीटा गया क्योंकि उसने टॉयलेट साफ करने से मना कर दिया था।
मिली जानकारी के अनुसार यहां पढ़ाई करने वाले छात्र सुशील दास को आश्रम के चपरासी खेमसिंह ने टायलेट साफ करने कहा इस पर छात्र ने चपरासी से कह दिया कि यह तो आपका काम है मैं क्यों करूं। इस बात से नाराज चपरासी ने उसकी जमकर पिटाई कर दी। घटना के बाद से छात्र ठीक से चल भी नहीं पा रहा है।

इलाज करने से किया मना

घटना के बाद छात्र के परिजन उसे इलाज के लिए छिंदगढ़ स्वास्थ्य केंद्र लेकर गए। आरोप है कि यहां तैनात डाक्टरों ने छात्र का उपचार ही नहीं किया। जब परिजनों ने डाक्टर पर दबाव डाला कि उपचार करों तो उसने इसे पुलिस केस बताते हुए पहले थाने जाने की सलाह दी। समझौता करने का दबाव

इधर छात्र के परिजन आरोपी चपरासी के खिलाफ थाने में एफआई करवाने गए तो पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की। सिर्फ लिखित में शिकायत ली और फिर कहने लगे कि पहले आश्रम अधीक्षक, चपरासी सबको एक साथ बिठाकर बात की जाएगी। इसके बाद एफआईआर दर्ज होगी।

छात्र संगठनों ने खोला मोर्चा

आरोपी चपरासी की गिरफ्तारी की मांग को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद संयुक्त पीएमटी बालक छात्रावास धरमपुरा के छात्र नेताओं ने भी मोर्चा खोल दिया है। गुरूवार को अभाविप के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य जयराम दास, परमेश्वर लाल तारम प्रदीप मरकाम अन्य छात्र नेताओं ने कलेक्टर आईजी के नाम ज्ञापन सौंपकर चपरासी सहित अन्य जिम्मेदारों पर कार्रवाई की मांग की है।


भ्रष्टाचारियों की संपत्ति होगी राजसात, कैबिनेट की मंजूरी

29 January 2015
रायपुर। छत्तीसगढ़ में भ्रष्ट अफसरों की संपत्ति कुर्क होगी। राज्य सरकार लोक सेवकों की अनुपातहीन संपत्ति की घोषणा भी कर सकेगी, जिसे किसी भी अदालत में चुनौती नहीं दी सकती। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में बुधवार को मंत्रालय [महानदी भवन] में राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में भ्रष्टाचार के आरोपी शासकीय अधिकारियों-कर्मचारियों [लोक सेवकों] की अनुपातहीन संपत्ति को जब्त अथवा राजसात करने के लिए छत्तीसगढ़ विशेष न्यायालय अधिनियम-2015 [विधेयक] के प्रारूप को हरी झंडी दी गई। इसे विधानसभा के आगामी बजट सत्र में पेश किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह विधेयक भ्रष्टाचार के खिलाफ राज्य सरकार द्वारा लिए गए जीरो टॉलरेंस के संकल्प के तहत लाया जा रहा है। डॉ. सिंह ने बैठक में लिए गए फैसलों की जानकारी दी।
मुख्यमंत्री ने बताया कि भ्रष्टाचार के खिलाफ हमने कठोर कानून बनाने का निर्णय लिया है। इसी कड़ी में कैबिनेट में विधेयक के प्रारूप का अनुमोदन किया गया। इस विधेयक में लोक सेवकों द्वारा भ्रष्ट साधनों से अर्जित चल-अचल अनुपातहीन संपत्ति को जब्त या राजसात करने का प्रावधान किया गया है। विधेयक में कुल 28 धाराएं शामिल की गई हैं।
डॉ. सिंह ने कहा कि इस विधेयक की एक विशेषता यह भी है कि राज्य शासन द्वारा ऐसे लोकसेवकों की अनुपातहीन संपत्ति के मामलों की घोषणा की जा सकेगी और इन घोषणाओं को किसी भी न्यायालय में चुनौती नहीं दी जा सकेगी। विधेयक में ऐसे मामलों के लिए विशेष न्यायालय के गठन का प्रावधान किया गया है, जो इस प्रकार के मामलों की सुनवाई करेगा। इन मामलों का निराकरण एक वर्ष के भीतर किया जाएगा। मामले की जांच के दौरान संबंधित लोक सेवक की अनुपातहीन संपति कुर्क की जा सकेगी, ताकि उसके द्वारा अनुपातहीन संपत्ति को अन्य तरीकों से निराकृत करने की आशंका न रहे।
मुख्यमंत्री ने बताया कि विधेयक में प्रावधान किया गया है कि ऐसे मामलों में संपत्ति कुर्क करने की पुष्टि एक माह के भीतर विशेष न्यायालय द्वारा की जाएगी। इसके साथ ही विशेष न्यायालय ऐसी कुर्क-अधिगृहीत संपत्ति को प्रबंधन के लिए जिला मजिस्ट्रेट अथवा उसके द्वारा अधिकृत व्यक्ति को सौंपी जा सकेगी। अपचारी लोक सेवक को विशेष न्यायालय में सुनवाई का समुचित अवसर दिया जाएगा। प्रभावित व्यक्ति द्वारा विशेष न्यायालय के आदेश के विरुद्ध एक माह के भीतर उच्च न्यायालय में अपील की जा सकेगी।

आईटी व राइट ऑफ वे नीति को भी हरी झंडी

कैबिनेट में इलेक्ट्रॉनिक्स आईटी और आईटी समर्थित सेवाओं में निवेश की नीति वर्ष 2014-19 तथा छत्तीसगढ़ की राइट ऑफ वे नीति 2015 को भी मंजूरी दी गई।

बस्तर-सरगुजा में स्थानीय भर्ती के लिए दो साल की छूट बढ़ी

बस्तर और सरगुजा संभागों के जिलों में तृतीय व चतुर्थ श्रेणी के रिक्त पदों की स्थानीय भर्ती के लिए वर्तमान में जारी नीति [छूट] को अगले दो वर्ष के लिए बढ़ाने का भी निर्णय कैबिनेट में लिया गया।


बागी पुत्र को चुनाव जिताने मैदान में उतरी सांसद

29 January 2015
जाजंगीर-चांपा। बलौैदा के जिला पंचायत क्षेत्र क्रमांक ११ में सांसद पुत्र चुनावी मैदान में है। जिला पंचायत क्षेत्र क्रमांक ११ में सांसद पुत्र प्रदीप पाटले पार्टी से समर्थन नहीं मिलने के बाद भी बागी होकर चुनावी मैदान में है। पुत्र मोह में फंसी सांसद कमलादेवी पाटले भी चुनाव प्रचार में सक्रिय हैं।
साथ ही पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी जितेंद्र खांडे के खिलाफ चुनाव लड़ रहे सांसद पुत्र प्रदीप द्वारा अपने प्रचार के लिए लगाए गए बैनर पोस्टर में भाजपा समर्थित होने का दावा किया गया है। बागी पुत्र के समर्थन में सांसद का इस तरह खुलेआम प्रचार करना और चुनाव सामग्रियों में उनके प्रतिनिधियों के नाम का इस्तेमाल होना क्षेत्र के मतदाताओं के लिए असमंजस की स्थिति निर्मित कर रहा है। जिपं क्षेत्र क्रमांक ११ में शामिल सभी गांवों को भाजपा समर्थित होने के बैनर-पोस्टर से पाट दिया गया है।
इस दिशा में भाजपा के नेता किसी तरह की सीधे प्रतिक्रिया देने से बच रहे हैं, लेकिन दबी जुबान से सभी का मानना है कि ऐसी दबंगई के सामने खामोशी बनाने से पार्टी का अनुशासन बिगड़ेगा। बहरहाल, पार्टी पदाधिकारियों ने अधिकृत प्रत्याशी की ओर से मामले की शिकायत पार्टी के जिलाध्यक्ष से की है।


नक्सलियों के भारी उत्पात के बीच 68 प्रतिशत मतदान

29 January 2015
रायपुर। राज्य में पंचायत चुनाव के पहले चरण में नक्सलियों के भारी उत्पात के बाद राज्य निर्वाचन आयोग ने 38 बूथों पर फिर से मतदान कराने का फैसला किया है। वहां पोलिंग कब होगी इसकी तारीख बाद में तय की जाएगी। राज्य पहले चरण के मतदान में बुधवार को औसतन 68 फीसदी वोट पड़े। बस्तर संभाग में केवल 47 और बाकी जिलों में 71 प्रतिशत वोट पड़े। बस्तर संभाग में जगदलपुर और बीजापुर जिले को छोड़कर दंतेवाड़ा, सुकमा और कोंडागांव में नक्सलियों ने उत्पात मचाया। यहां 30 मतदान दलों को नक्सलियों ने लूट लिया। यहां वोट नहीं डाले जा सके। हालांकि हिंसा की खबर नहीं है।

5 दलों को वापस भेजा

सुकमा जिले के छिंदगढ़ ब्लाक में मतदान के लिए गए कुन्ना, हमीरगढ़ और मिचवार के दस मतदान दलों को नक्सलियों ने लूट लिया, जबकि कुंदनपाल और पुसगुन्ना के पांच मतदान दलों को वापस भेज दिया। कोंडागांव जिले के नवागांव, हड़ेली, कड़ेनार व बेचा के 7 पाेलिंग बूथ पर गए मतदान दलों को भी लूटा गया है।

निगम आयुक्त और मतदान कर्मियों के वाहन में तोड़फोड़

नंदनी-अहिवारा के पास खुदनी गांव में पंचायत चुनाव से लौट रहे भिलाई नगर निगम आयुक्त नरेंद्र दुग्गा के वाहन और मतदान कर्मियों की बस में ग्रामीणों ने तोड़फोड़ की। दो आरक्षकों से मारपीट भी की गई। पुलिस ने 20 ग्रामीणों को हिरासत में ले लिया है। पंचायत चुनाव की मतगणना के दौरान विवाद शुरू हुआ था।


छत्तीसगढ़ में पहली बार होगी भालुओं की गिनती

27 January 2015
रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के निर्देश के बाद छत्तीसगढ़ में पहली बार भालुओं की गिनती होगी। इसका फैसला राज्य वन्यजीव बोर्ड की पिछली बैठक में लिया गया। फिलहाल विभागीय अफसर भालुओं की गिनती के तरीकों पर मंथन कर रहे हैं। विभागीय सूत्रों के मुताबिक भालुओं की गिनती के लिए कैमरा ट्रैपिंग के साथ ही देशी पद्धति भी अपनाई जाएगी।
छत्ताीसगढ़ में भालुओं की अनुमानित संख्या लगभग तीन हजार है। विशेषज्ञों के अनुसार देश में सर्वाधिक भालू छत्ताीसग़़ढ में हैं। पिछले कुछ दिनों से प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में भालुओं का आतंक जारी है। कुछ लोगों को भालुओं ने मार डाला तो कुछ को घायल कर दिया है। प्रदेश में भालू-मानव द्वंद्व पर राज्य वन्यजीव बोर्ड की बैठक में विचार-विमर्श किया गया। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने विभागीय अधिकारियों को भालुओं की गणना की तैयारी करने के निर्देश दिए, जिसके बाद अफसर गणना करने की योजना बनाने में जुट गए हैं।
सूत्रों के मुताबिक विभागीय अफसरों की जल्द ही बैठक होगी, जिसमें भालुओं की गणना, मानव-भालू द्वंद्व पर चर्चा होगी। इसके अलावा भालुओं के खाने की व्यवस्था जंगलों में बेहतर तरीके से करने का निर्देश भी अफसर देंगे।

5 साल में खर्च होंगे 20 करोड़

प्रदेश में भालुओं का आतंक रोकने के लिए राज्य सरकार ने जामवंत योजना को मंजूरी दी है। विभाग इसकी कार्ययोजना बनाकर प्रभावित क्षेत्र में लागू करने जा रहा है। इस योजना में पांच साल में करीब 20 करो़़ड खर्च किए जाएंगे। यह राशि कैम्पा फंड से खर्च की जाएगी।


कोरबा के डॉ. अजय ने लांगेस्ट स्पीच देकर बनाया विश्व रिकार्ड

27 January 2015
कोरबा. शहर के पैथोलॉजिस्ट डॉ. अजय शेष ने लांगेस्ट मैराथन स्पीच के तहत लगातार 49 घंटे 39 मिनट बोलकर विश्व रिकार्ड बनाया है। उन्होंने जम्मू कश्मीर के विक्रांत का रिकार्ड तोड़ा है। इससे पहले विक्रांत ने 48 घंटे 31 मिनट तक लांगेस्ट स्पीच देकर यह रिकार्ड अपने नाम किया था।
डॉ. अजय ने कहा कि वह आगे अपना ही रिकार्ड तोडऩे का प्रयास करेंगे। डॉ. अजय के परिजनों ने उनकी तबियत बिगडऩे की डर से लगातार स्पीच देने से मनाकर दिया। डॉ. अजय आवाज लडख़ड़ाने के बाद भी स्पीच दे रहे थे।
उल्लेखनीय है कि डॉ. अजय लांगेस्ट मैराथन स्पीच के तहत पॉवर हाऊस रोड स्थित हॉटल विश्राम रिजेंसी में शनिवार दोपहर 27 बजे से बोल रहे थे। डॉ.अजय ने इसके लिए आर्गेनाजम टू आर्गेनाइजेशन विषय का चयन किया। इसकी निगरानी मेडिट्रांस के द्वारा की जा रही है। कलक्टर रीना कंगाले सहित बड़ी संख्या में लोग रविवार को स्पीच सुनने होटल पहुंचे।


राज्यपाल ने रायपुर और मुख्यमंत्री ने जगदलपुर फहराया झंडा

27 January 2015
रायपुर. गणतंत्र दिवस का मुख्य समारोह पुलिस परेड मैदान में आयोजित किया गया, जहां सुबह ९ बजे राज्यपाल बलराज दास टंडन ध्वजारोहण किया और संयुक्त परेड की सलामी ली। वहीं मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने जिला मुख्यालय जगदलपुर के लालबाग मैदान में ध्वजारोहण किया। जबकि विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल ने सरगुजा जिले के मुख्यालय अम्बिकापुर में परेड की सलामी लेकर ध्वजारोहण किया। बिलासपुर में नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल ने झंडावंदन कर परेड की सलामी ली।

राज्यपाल ने स्वच्छ भारत अभियान की प्रशंसा की

समारोह में राज्यपाल ने कहा, महान नेताओं और अमर शहीदों के लगातार संघर्ष के बाद देश को आजादी मिली और आजादी के बाद संविधान बनाकर देश में लोकतंत्र की स्थापना की गई। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि अगर हम जागरूक नहीं हुए तो हमारी आजादी फिर गुलामी में बदल सकती है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान की प्रशंसा करते हुए कहा कि इसमें सभी नागरिकों की भागीदारी होनी चाहिए। रोगमुक्त स्वच्छ और स्वस्थ भारत के निर्माण में इस अभियान की महत्वपूर्ण भूमिका होगी।
मुख्यमंत्री ने फहराया झंडा

गणतंत्र दिवस पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जगदलपुर के लालबाग मैदान में जनता को संबोधित करते हुए कहा कि आज का दिन पावन संविधान और गणतंत्र के प्रति निष्ठा दोहराने, महान देश के प्रति एकजुटता प्रदर्शित करने, और राष्ट्र-भक्ति के संकल्पों के गगनचुम्बी उद्घोष का है। अनेकता में एकता की सांस्कृतिक पहचान को हमारे संविधान ने अखण्ड मजबूती दी है। ऐसे गौरवमय संविधान के निर्माताओं, देश की एकता और अखण्डता के लिए अपने प्राणों का बलिदान करने वाले अमर शहीदों तथा देश के निर्माण में अपना अमूल्य जीवन समर्पित करने वाली विभूतियों को शत्-शत् नमन करता हूं। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ युवा सूचना क्रांति योजना के तहत कॉलेज स्तर के विद्यार्थियों को इस वर्ष भी नि:शुल्क लैपटॉप और टेबलेट दिए जाएंगे। रायपुर में राज्य का पहला गैस आधारित 132 केवी क्षमता के विद्युत उपकेन्द्र की स्थापना की जाएगी। शहरी गरीबों को रोजगार के अधिक से अधिक अवसर दिलाने के लिए राज्य के 141 नगरीय निकायों में 'मुख्यमंत्री शहरी आजीविका मिशन" शुरू किया जाएगा। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने राज्य में राष्ट्रीय स्तर के तकनीकी शिक्षा संस्थान -आई.आई.टी. और ट्रिपल आई.टी. इस वर्ष शुरू करने की बात कही। जरूरतमंद परिवारों के लिए 'मुख्यमंत्री आवास योजना" के तहत विभिन्न स्थानों पर एक लाख 94 हजार परिवारों के लिए मकानों का निर्माण किया जाएगा। नया रायपुर में निम्न आय और मध्यम आय वाले 40 हजार परिवारों को किफायती दरों पर मकान दिए जाएंगे।


नक्सल प्रभावित आठ राज्यों के मुख्यमंत्रियों की 13 को बैठक

12 January 2015
रायपुर। छत्तीसगढ़ में नक्सल प्रभावित आठ राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक 13 जनवरी को राजधानी रायपुर में होगी। केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग और शिपिंग मंत्री नितिन गडकरी की ओर से यह बैठक बुलाई गई है। एनडीए की सरकार आने के बाद नक्सल प्रभावित राज्यों में छत्तीसगढ़ को केंद्र में रखा गया है। इसको देखते हुए वामपंथी उग्रवाद [एलडब्ल्यूई] प्रभावित आठ राज्यों के मुख्यमंत्रियों की पहली बैठक बुलाई गई है। इसमें नक्सल प्रभावित राज्यों में स़़डक निर्माण में आ रही दिक्कतों की समीक्षा की जाएगी। इसमें सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय, गृह मंत्रालय, राज्य पीडब्ल्यूडी, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और अन्य संगठनों के वरिष्ठ अधिकारी शामिल होंगे।
लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों ने बताया कि प्रदेश के नक्सल प्रभावित जिलों में 2897 करोड़ रुपए की लागत से 53 सड़कें स्वीकृत की गई हैं, जिनकी लम्बाई 2021 किलोमीटर है।
नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सड़क निर्माण में तेजी लाने के लिए हाल ही में मुख्य सचिव विवेक ढांड ने पीडब्ल्यूडी और राज्य पुलिस के आला अधिकारियों के साथ बैठक की थी। इसमें अधिकारियों ने जानकारी दी थी कि 703 किलोमीटर की 18 सड़कों का निर्माण पूर्ण किया जा चुका है, 21 सड़कों का निर्माण प्रगति पर है। 14 सड़कों के निर्माण के लिए निविदाएं जारी की जा चुकी हैं।
सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय, वामपंथी उग्रवाद से प्रभावित 34 जिलों में सड़क संपर्क सुधारने के लिए कुल 5,474 किलोमीटर लंबी सड़क का निर्माण कर रहा है। इसकी सड़क आवश्यकता योजना [आरआरपी] आठ राज्यों को कवर करती है, ये राज्य तेलंगाना, बिहार, छत्तीसग़़ढ, झारखंड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा और उत्तर प्रदेश हैं। आवंटित 5,469 किलोमीटर लंबी सड़क निर्माण में से 4,908 किलोमीटर लंबी सड़क निर्माण का कार्य शुरू किया गया है। इस योजना के तहत अब तक 3,299 किलोमीटर [67 प्रतिशत] सड़क निर्माण पूरा हो चुका है। इस पर 4,374 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं।

शामिल होंगे छत्तीसगढ़ के आला अधिकारी

बैठक में छत्तीसगढ़ के पीडब्ल्यूडी और गृह विभाग के आला अधिकारी शामिल होंगे। इसके साथ ही डीजीपी एएन उपाध्याय, एंटी नक्सल ऑपरेशन के आला अधिकारी भी शामिल होंगे। इसको लेकर पुलिस मुख्यालय में रविवार को भी तैयारी चलती रही। आला अधिकारियों ने स़़डक निर्माण में आ रही दिक्कतों को लेकर एक प्रजेंटेशन भी बनाया है, जिसे मंत्री के सामने पेश किया जाएगा। इसके साथ ही बैठक में छत्तीसगढ़, झारखंड और बिहार तथा अन्य राज्यों के पीडब्ल्यूडी मंत्रियों के शामिल होने की संभावना है।


दो बीआरपी पर हुई कार्रवाई

12 January 2015
जांजगीर। जिले के सभी नगरीय निकायों में 17 जनवरी को होने वाले उपाध्यक्ष पद के चुनाव के लिए कलक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी ने पीठासीन एवं विहीत अधिकारी नियुक्त कर दिया है।
नगर पालिका जांजगीर-नैला के उपाध्यक्ष पद के निर्वाचन के लिए डिप्टी कलक्टर भुवनेश्वर लहरी को पीठासीन अधिकारी नियुक्त किया है। इसी प्रकार नगर पालिका चांपा के उपाध्यक्ष पद के निर्वाचन के लिए एसडीएम चांपा एके शर्मा, नगर पालिका अकलतरा के लिए डिप्टी कलक्टर सीडी जांगड़े, बलौदा नगर पंचायत के लिए तहसीलदार संदीप ठाकुर, खरौदा नगर पंचायत के लिए एसडीएम पामगढ़ केके शर्मा, शिवरीनारायण नगर पंचायत के लिए तहसीलदार जांजगीर दिनेश चिंचोलकर, नया बाराद्वार नगर पंचायत के लिए तहसीलदार सक्ती आरवी शर्मा, अड़भार नगर पंचायत के लिए तहसीलदार मालखरौदा भूपेन्द्र सिंह जोशी, नवागढ़ नगर पंचायत के लिए तहसीलदार नवागढ़ एसएस बल्के, सारागांव नगर पंचायत के लिए तहसीलदार चांपा डीएस उईके, जैजैपुर नगर पंचायत के लिए तहसीलदार जैजैपुर एआर खान, चन्द्रपुर नगर पंचायत के लिए तहसीलदार हसौद आरएस सिदार, डभरा नगर पंचायत के लिए एसडीएम डभरा रीता यादव को पीठासीन अधिकारी बनाया गया है।


प्रधानमंत्री मोदी की थीम मेक इन इंडिया की तर्ज पर मेक इन छत्तीसगढ़

12 January 2015
रायपुर। छत्तीसगढ़ की नई औद्योगिक नीति में इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की थीम मेक इन इंडिया की झलक साफ दिखाई देगी। केंद्र की तर्ज पर ही राज्य की उद्योग नीति में मेक इन छत्तीसगढ़ की थीम को महत्वपूर्ण बनाया जा रहा है। राज्य में अधिक से अधिक निवेश को प्रोत्साहन देने के लिए कोशिश की जा रही है कि देश की सबसे सरल और आकर्षक नीति उद्योगपतियों के सामने रखी जाए। इसमें कोर सेक्टर के स्टील, पावर, एल्युमिनियम और सीमेंट के उद्योगों के बजाय मैनुफैक्चरिंग यूनिट को बढ़ावा दिया जाएगा।
सबसे अहम बात ऑटोमोबाइल सेक्टर के उद्योगों को सीधा निमंत्रण है। यानी बड़ी कंपनियों की गाड़ियां छत्तीसगढ़ में बन सकती हैं और इसके कारण स्थानीय लोगों को सीधा रोजगार मिल सकता है। उल्लेखनीय है कि राज्य की पुरानी नीति में सरकार ने बड़े उद्योगों की स्थापना पर जोर दिया था। सरकार ने नवंबर 2012 में ग्लोबल इंवेस्टर्स मीट का आयोजन किया था।

नई उद्योग नीति में ये

- उद्याेग स्थापना के लिए भूमि चिह्नित कर लैंड बैंक बनाया जाएगा।
- प्रदूषण रहित औद्योगिकीकरण को बढ़ावा मिलेगा।
- खाद्य प्रसंस्करण और लघु व मध्यम उद्योगों के लिए कार्ययोजना।
- ग्रामोद्योग से जुड़े काम कोर सेक्टर उद्योगों में होगा शामिल।
- आईटी और सेवा क्षेत्र के उद्योगों को नया रायपुर में जगह।
- प्रमुख जिलों में भूमि बैंक का गठन।

फिर सहमति का दौर

बड़े उद्योग समूहों को प्रारूप भेजकर उनकी सहमति लेने की कोशिश। नीति में गुजरात, महाराष्ट्र समेत देश के 8 राज्यों की नीतियों के अहम बिंदुओं को शामिल किया गया। इससे उद्योगपतियों को तुलनात्मक अध्ययन में आसानी होगी। वैसे कोशिश की जा रही है कि कैबिनेट की अगली बैठक में प्रस्तावित नीति पर मंत्रिमंडल में चर्चा कर ली जाए।

आगे क्या होगा

सरकार नई नीति लागू करने के बाद देश-विदेश के प्रमुख उद्योगपतियों को छत्तीसगढ़ बुलाएगी। विभिन्न शहरों में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह खुद रोड शो करेंगे। सरकार की ओर से अधिकृत तौर पर उनको बुलावा भेजा जाएगा।

एनएमडीसी स्टील कंपनी का मुख्यालय छत्तीसगढ़ में होगा

एनएमडीसी ने छत्तीसगढ़ के नगरनार संयंत्र के संचालन के लिए नई स्टील कंपनी बनाई है। इस कंपनी का मुख्यालय छत्तीसगढ़ में ही होगा। माइनिंग सेक्टर की एनएमडीसी का मुख्यालय हैदराबाद में है, जबकि आयरन ओर का खनन वह ज्यादातर छत्तीसगढ़ की सीमा में ही करती है।


भरे बाजार में नक्‍सलियों का हमला, प्रधान आरक्षक की हत्‍या

10 January 2015
दंतेवाड़ा। क्षेत्र के कटेकल्याण में साप्ताहिक बाजार में नक्सलियों ने धारदार हथियारों से हमला कर प्रधान आरक्षक को मौत के घाट उतार दिया।
नक्सलियों ने घात लगाकर प्रधान आरक्षक शंकर प्रसाद जोशी पर हमला किया और उनकी जान ले ली।जानकारी के अनुसार यहां से करीब 40 किलोमीटर दूर विकासखंड मुख्यालय कटेकल्याण के साप्ताहिक बाजार में प्रधान आरक्षक एसआई कंवर के साथ पेट्रोलिंग पर निकले थे। इसी दौरान उनकी मोटरसाइकल बंद हो गई।
जब प्रधान आरक्षक बाइक में किक लगाकर उसे स्टार्ट करने का प्रयास कर रहे थे तभी ग्रामीणों की वेशभूषा में आए आधा दर्जन से अधिक नक्सलियों ने धावा बोलते हुए जिला बल के प्रधान आरक्षक जोशी पर चाकू और कुल्हाड़ी से ताबड़तोड़ प्रहार कर लहूलुहान कर दिया। गंभीर रूप से जख्मी प्रधानआरक्षक की मौके पर ही मौत हो गई। साप्ताहिक बाजार में सुरक्षा के लिए पुलिसकर्मियों को तैनात किया जाता है।
एकाएक हुए हमले के बाद बाजार में भगदड़ मच गई थी।व्यापारियों ने अपनी दुकानें बंद कर दी थी और ग्रामीण भी भाग खड़े हुए थे। प्रधान आरक्षक की हत्या के बाद नक्सली उसकी सर्विस रायफल एसएलआर लूट कर ले गए।।


दो बीआरपी पर हुई कार्रवाई

10 January 2015
जशपुरनगर। जशपुर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी जेपी मौर्य द्वारा विकासखंड मनोरा में पदस्थ दो बीआरपी पर कार्रवाई की गई है। बीआरपी संजीव कुमार यादव को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है, वहीं बीआरपी कमलेश्वर टोप्पो के निलंबन के लिए सहायक आयुक्त आदिवासी विकास जशपुर को प्रस्ताव भेजा गया है।
युक्तियुक्तकरण नीति विकासखंड मनोरा के प्रभावित अनुसूचित जाति एवं अनुसचित जनजाति संवर्ग के महिला एवं पुरूष वर्ग के कर्मचारियों के द्वारा संजीव कुमार यादव बीआरपी, कार्यालय बीआरसी मनोरा एवं कमलेश्वर टोप्पो बीआरपी कार्यालय बीआरसी मनोरा के विरूद्ध शिक्षिका चमेली भगत एवं अन्य 13 के द्वारा अन्यत्र हटाए जाने के संबंध में शिकायत की गई थी।
जिसके पश्चात मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत जशपुर के द्वारा शिकायत की सत्यता को जानने हेतु 7 जनवरी को शिकायतकर्ताओं को बुला कर समक्ष में सुना गया, जिसमें संजीव कुमार यादव एवं कमलेश्वर टोप्पो के द्वारा युक्तियुक्तकरण के तहत अच्छे जगह में पदस्थापना कराने हेतु शिक्षिका प्रभा भगत एवं विमलाभगत से 20-20 हजार रूपये मांग करने एवं राशि न देने पर संजीव कुमार यादव के द्वारा महिला कर्मचारियों के साथ जातिगत गाली-गलौज देने एवं अभद्र, अश्लील व्यवहार करने के कारण उक्त दोनो पर कार्रवाई हुई।


रायपुर मास्टर प्लान में जुड़ेंगे 64 नए गांव

10 January 2015
रायपुर। राजधानी रायपुर के मास्टर प्लान-2021 के एरिया में शहर से लगे 64 नए गांवों जोड़े जा रहे हैं। राजधानी के कुल क्षेत्र में अब इन सभी गांवों की 75 हजार एकड़ जमीन ली जा रही है। राजधानी में अभी लागू मास्टर प्लान का कुल एरिया करीब 40 हजार एकड़ है। नए गांवों का एरिया मास्टर प्लान में लेने की वजह ये है कि घने शहर से लेकर आउटर तक, सभी जगह का स्ट्रक्चरल डेवलपमेंट किया जा सके। इन गांवों की जमीन के डेवलपमेंट का रोड मैप दो महीने में तैयार कर लिया जाएगा। शासन ने इसकी जिम्मेदारी एक निजी कंपनी को सौंप दी है। इन गांवों की जमीन पर बेतरतीब डेवलपमेंट को रोकने के लिए वहां ले-आउट और नक्शे पास करने पर अघोषित रोक भी लग गई है।
टाउन प्लानिंग अफसरों के मुताबिक रायपुर के लिए नगर विकास योजना-2021 (मास्टर प्लान) का खाका 2008 से बनना शुरू हुआ है। तब जिन गांवों को नए मास्टर प्लान में लेने का प्रस्ताव था, उनमें तेजी से डेवलपमेंट हुआ है, लेकिन बेतरतीबी भी काफी बढ़ी। टाउन प्लानर आशंकित हैं कि 64 गांवों में भूमि का उपयोग (लैंड यूज) जीरो होने के कारण बेतरतीबी और बढ़ सकती है। जैसे, विधानसभा मार्ग के एक गांव में कई एजुकेशनल इंस्टीट्यूट के ले-आउट पास कर दिए गए, जबकि उस गांव का मास्टर प्लान ही नहीं है। यही वजह है कि लगे हुए सभी 64 नए गांवों का पहले से प्लान तैयार कर लिया जाएगा, ताकि नियोजित तरीके से इन गांवों की जमीन भी डेवलप होती रहे।

इस तरह होगा नियोजन

सभी 64 गांवों से जो जमीन प्लान में ली जा रही है, उसमें सबसे पहले विकास का रोड मैप तैयार होगा। अर्थात, किस एरिया का विकास किस क्षेत्र के लिए तथा कितने समय में होना है। यह तैयार होने के बाद संबंधित अलग-अलग एरिया में लैंड यूज तय कर दिया जाएगा। यह प्रयोजन आवासीय, व्यावसायिक, औद्योगिक तथा अामोद-प्रमोद आदि होंगे। इसके बाद जिस एरिया का लैंड यूज जैसा रहेगा, वहां केवल लैंड यूज के हिसाब से ही डेवलपमेंट को अनुमति दी जाएगी।

नक्शों पर अघोषित रोक

टाउन एंड कंट्री प्लानिंग के डिप्टी डायरेक्टर के दफ्तर ने प्रस्ताव 64 गांवों में लगभग 75 हजार एकड़ जमीन का लेआउट और नक्शे पास करने से मना कर दिया है। यह घोषित नहीं है। दरअसल शासन ने पत्र लिखा है कि सभी 64 गांवों में कोई भी प्रोजेक्ट का ले-आउट आता है तो इस पर डायरेक्टर टाउन एंड कंट्री प्लानिंग से अभिमत लिया जाए। जबकि डायरेक्टर दफ्तर ने तय कर लिया है कि अभिमत नकारात्म होगा, या मना किया जाएगा। इस तरह, इन गांवों के नक्शे, लेआउट पर अघोषित रोक लग गई है।

ये हैं सभी 64 गांव

हतबंध, गोमची, तेंदुआ, गुमा, बोरझरा, बाना, कारा, उरला, अछोली, बेंद्री, पठारीडीह, कन्हेरा, कुम्हारी, निमोरा, चिखली, सोंडरा, बहेसर, मुनरेठी, चरौदा बाजार, परसतराई, तिवरैया, धरसींवा, गोढ़ी, मोहदी, नगरगांव, टाडा, सिलतरा, अकोली, गिधोरी, टोर, बरबंदा, मांढर, सांकरा, गिरौद, धनेली, नेउरडीह, मटिया, दोंदेकला, लालपुर, दोंदे, छपोरा, टेकारी, भुरकोनी, सेमरिया, कचना, परसुलडीह, बरौंदा, आमा सिवनी, सांकरी, पिरदा, तुलसी, सड्डू, काठाडीह, कांदुल, सेजबहार, दतरेंगा, डोमा, मुजगहन, धुसेना, खिलोरा, सिवनी, बोरियाकला, धनेली, भटगांव और सिंगारभाटा।


महापौर मधु किन्नर ने ठुकराया एसी वाहन

09 January 2015
रायपुर। नवनिर्वाचित महापौर का साथी अब हाथी होगा। दरअसल मेयर ने शासन से मिलने वाले एसी वाहन को ठुकरा दिया है। इसके बदले गली-गली में घुसने वाला टाटा मैजिक छोटा हाथी की मांग की है। महापौर की मंशा एसी वाहन में घूमने की नहीं, बल्कि लोगों से संपर्क कर उनकी समस्या सुलझाना है। ऐसे में अब महापौर छोटा हाथी में घूमकर लोगों की समस्या सुनेंगे।
महापौर मधु किन्नर अब एसी वाहन के बजाए टाटा मैजिक छोटा हाथी में शहर का भ्रमण करेंगे। मेयर ने शासन की ओर से मिलने वाले एसी वाहन को ठुकरा दिया है। इसके बदले महापौर ने छोटा हाथी की मांग की है।
बताया जाता है कि शहर में ऐसे कई वार्ड हैं जहां बडे़ वाहन नहीं घुसते। ऐसे में गलियों में महापौर मधु लोगों से संपर्क करने छोटा हाथी से जाएंगे। मेयर पद की शपथ लेने के साथ ही मधु ने निगम में काम करना शुरू कर दिया है। गुरुवार दोपहर करीब साढे़ 12 बजे निगम पहुंच कर महापौर चेंबर में बैठी, इस दौरान बाहर तो नहीं निकली। लेकिन चेंबर में ही काम-काज की जानकारी लेती रहीं। हालांकि मेयर ने इस दौरान न तो किसी अधिकारी को तलब किया और न ही किसी कर्मचारी को बुलाया। ऐसे में उनके समर्थकों से ही निगम क्रियाकलाप के बारे में चर्चा करने की बात कही जा रही है। महापौर मधु शहर की साफ-सफाई पर विशेषष ध्यान देंने की बात कह रहीं हैं। इस पर अमल करने के लिए महापौर ने पहले निगम से छोटा हाथी की मांग की है। कहा जा रहा है कि इस छोटे हाथी पर सवार होकर मेयर शहर के छोटे-ब़़डे गलियों में साफ-सफाई का जायजा लेंगी।

खर्च पर कंट्रोल

महापौर को मिलने वाला एसी वाहन पेट्रोल से चलता है। इसके लिए हर माह 60 लीटर पेट्रोल का प्रावधान है। ऐसे में पेट्रोल का खर्च बचाने मेयर ने डीजल वाहन की मांग की है। इसके अलावा अन्य खर्च पर कंट्रोल करने की बात कही जा रही है। निगम में ऐसे ही ताम-झाम के नाम पर लाखों पए फूंका जाता है। अब इन खर्चो पर लगाम लगाने की तैयारी हो रही है। खास बात यह है कि ताम-झाम के नाम पर निगम अधिकारी लाखों डकार जाते हैं।

कर्मचारियों की मांगी सूची

गुरुवार को महापौर मधु ने कार्यालय अधीक्षक से निगम कर्मचारियों की सूची मांगी। मेयर द्वारा सूची की मांग करने के बाद तत्काल कर्मचारियों की सूची उपलब्ध कराई गई।

मोदी स्टाइल में काम शुरू

महापौर मधु किन्नर द्वारा बैठने से पहले मोदी की तर्ज पर कुर्सी को प्रणाम किया। इसके बाद महापौर की कुर्सी पर बैठी। हालांकि मधु किन्नर के अभिवादन का अंदाज निराली है। जिस तरह लोगों का अभिवादन करती है। वैसे ही कुर्सी का अभिवादन कर बैठी थी।


सीजीपीएससी में अंकिता चयनित

09 January 2015
अंबिकापुर. अंकिता गर्ग सीजी पीएससी परीक्षा में चौथा रैंक प्राप्त कर महिला टॉपर डिप्टी कलक्टर पद के लिए चयनित हुई हैं। अंकिता गर्ग प्रवीण आईएएस एकेडमी की छात्रा हैं।
संस्था के प्रतियोगी स्वेच्छा सिंह, सालिक राम गुप्ता एवं संजय मरकाम का चयन क्रमश: सीईओ, नायब तहसीलदार एवं सहकारिता निरीक्षक पद पर चयनित हुए हैं।
संस्था के प्रवीण अग्रवाल सहायक विकासखंड शिक्षा अधिकारी में दसवां स्थान दीपिका स्वर्णकार एवं अंबिकेश स्वर्णकार ने पटवारी परीक्षा में टॉपर रहे हैं। राकेश शर्मा व विजय पांडेय का चयन २०१४ में सीएमओ के लिए हो चुका है।


रायपुर जिले में दाल और शक्कर की सब्सिडी राशि भी बैंक खाते में आएगी

09 January 2015
रायपुर. रसोई गैस (एलपीजी) सिलेंडरों की सब्सिडी की रकम जिस तरह लोगों के बैंक खाते में दी जानी है, उसी तरह सरकारी राशन दुकानों से बीपीएल परिवारों को मिलने वाली एक किलो शक्कर और दो किलो मटर दाल की सब्सिडी भी सीधे लोगों के बैंक खाते में चली जाएगी। छत्तीसगढ़ में पहली बार यह योजना रायपुर जिले में शुरू हो रही है। इसके लिए राशन कार्डधारकों को नया खाता नहीं खोलना पड़ेगा।
जन-धन योजना के खाते को इस योजना से जोड़ दिया जाएगा और सब्सिडी के पैसे खाते में जाने लगेंगे। खाद्य संचालनालय ने निर्देश दिए हैं कि 15 फरवरी तक जिले के सवा चार लाख बीपीएल परिवारों के खाते जन-धन योजना से जोड़ दिए जाएं। फर्जी राशन कार्डों पर लगाम कसने के लिए ऐसा किया जा रहा है। रायपुर में योजना की मानीटरिंग का जिम्मा कलेक्टर को सौंपा गया है। सूत्रों के अनुसार जन-धन योजना का बैंक खाता वही खोल सकेंगे, जो बीपीएल होने के प्रमाण प्रस्तुत करेंगे। इसका लाभ ये होगा कि एक परिवार के एक राशन कार्ड के कारण खाता भी एक ही खुलेगा। इससे परिवार के अन्य लोगों के नाम बने राशन कार्ड खुद ही शून्य हो जाएंगे। अफसरों ने बताया कि सरकार शक्कर और दाल देने के बजाय सीधे कैश खातों में जमा करवा देगी। ये दोनों चीजें दुकान से नहीं दी जाएंगी। पैसे किस रेट को आधार बनाकर जमा किए जाएंगे, यह फैसला होना बाकी है।

ऐसे दिखेगा ऑनलाइन

जिले के कोर पीडीएस में एनआईसी नया सॉफ्टवेयर इंस्टाल कर रही है। इसके जरिए जन-धन योजना के खाते की जानकारी फीड होगी। पहले खाने में खाताधारी का नाम, दूसरे में बीपीएल राशन कार्ड में दर्ज परिवारों के नाम और तीसरे बॉक्स में जन-धन खाते का नंबर, बैंक का नाम और खाताधारक का परिवार के मुखिया से संबंध के बारे में बताया जाएगा। अंत में जमा होने वाली रकम का ब्योरा रहेगा।

खाता खुलने तक दुकान से

अफसरों को निर्देश दिए गए हैं कि जब तक जन-धन योजना का खाता नहीं खुलता, ऐसे लोगों को राशन सरकारी दुकानों से मिलता रहेगा। सरकारी खाता जीरो बैंलेंस में हर उस व्यक्ति के नाम से खुल सकता है जिसका नाम बीपीएल राशन कार्ड में दर्ज है।
बीपीएल परिवारों के राशन कार्ड 15 फरवरी तक जन-धन योजना के खाते से जोड़ दिए जाएंगे। इसके बाद ऐसे सभी बैंक खातों में दाल और शक्कर की सब्सिडी जमा की जाएगी।'' दयामणि मिंज, जिला खाद्य नियंत्रक


साक्षी महाराज को नहीं कहना था सांसद चार-चार बच्चे पैदा करें

08 January 2015
रायपुर। रायगढ़ लोकसभा क्षेत्र के सांसद व केंद्रीय इस्पात व खान राज्य मंत्री विष्णु देव साय ने कहा कि साक्षी महराज का बयान गलत। उन्हें नहीं कहना था कि सांसद चार-चार बच्चे पैदा करें। केंद्रीय राज्य मंत्री ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा कि नगरीय निकाय चुनाव में हमारा प्रदर्शन आशाजनक नहीं रहा, पर इतना भी बुरा नहीं कि इस्तीफा देकर घर बैठ जाएं।
केंद्रीय राज्य मंत्री श्री साय सर्किट हाउस में पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। साक्षी महराज द्वारा दिए गए विवादित बयान को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में श्री साय ने साक्षी महराज के बयान को उनका अपना निजी राय माना। साथ ही वे यह कहना भी नहीं भूले कि साक्षी महराज को इस तरह का विवादित बयान नहीं देना चाहिए। उनको यह कतई नहीं कहना था कि सांसद चार-चार बच्चे पैदा करें। प्रदेश में हाल ही में हुए नगरीय निकाय चुनाव में सत्ताधारी दल के खराब प्रदर्शन और कांग्रेस के हमलावर रुख तथा सीएम से इस्तीफे के सवाल पर जब उनसे प्रतिक्रिया मांगी गई तो उनका कहना था कि चुनाव प्रचार के दौरान पार्टी के रणनीतिकारों ने जो अनुमान लगाया था वह पूरा नहीं हो पाया। हमारा प्रदर्शन आशानुरूप नहीं रहा। पर इतना भी खराब नहीं।
साय का कहना था कि पार्टी के प्रदर्शन को लेकर चिंतन मनन किया जाएगा। चुनाव में ऊपर-नीचे होता रहता है। स्थानीय निकाय के चुनाव को राज्य सरकार के प्रदर्शन से सीधा-सीधा जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए। सांसद लखनलाल साहू के बयान से भी पल्ला झाड़ लिया।
रायगढ़ में थर्ड जेंडर महापौर,यह तो जनादेश है

रायगढ़ नगर निगम में थर्ड जेंडर के महापौर की कुर्सी पर काबिज होने के सवाल पर मंत्री श्री साय का कहना है कि यह तो जनादेश है। लोकतंत्र में जनमत का झान ही सर्वोपरी होता है। जनादेश का सम्मान होना चाहिए। इस बारे में और क्या कहा जा सकता है।
कोल मेरा विभाग नहीं

कोयला कर्मियों की हड़ताल से हो रहे करोड़ों के नुकसान व केंद्र सरकार द्वारा किए जा रहे निजीकरण के प्रयास संबंधी सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कोयला मंत्रालय मेरा विभाग नहीं है। केंद्रीय मंत्री सीधे डील करते हैं। लिहाजा इस संबंध में कुछ कहना उचित नहीं है। श्री साय मंत्री बनने के बाद पहली बार बिलासपुर पहुंचे। वे निजी प्रवास पर थे। निजी कार्यक्रम में शामिल होने के बाद वे जशपुर के लिए रवाना हो गए।।


गैंगरेप के बाद बदनामी का डर दिखा कभी भी ले जाते थे साथ

08 January 2015
भिलाई। गैंगरेप के आरोपी दोनों पुलिसकर्मियों ने मुंह काला करने के बाद भी युवती का पीछा नहीं छोड़ा। वह उसे लगातार फोन पर तंग करते रहे। कभी दुष्कर्म की वीडियो क्लीपिंग सार्वजनिक करने की धमकी देते। धमकाने का सिलसिला करीब छह महीने तक चलता रहा। इस बीच दोनों पुलिसकर्मी युवती के कॉलेज पहुंच जाते थे और कई बार उसे कोचिंग से जबरदस्ती अपने साथ ले गए। इस प्रताड़ना से तंग आकर वह घर से बिना बताए खुदकुशी करने निकल गई थी।
यह आपबीती गैंगरेप पीडिता की है। उसके पिता और भाई इस घटना के बाद से दहशत में हैं। गुरूवार को जब महिला पुलिस उसकी बेटी को मुलाहिजा के नाम पर लेकर निकली और घंटों तक उसका कोई पता नहीं चला तो वह रोने लगा। पीडिता के भाई ने बताया कि उन पर शिकायत वापस लेने का दबाव बनाया जा रहा है। पहले उसकी बहन को दोनों आरोपी पुलिस की वर्दी का रौब दिखाकर डराते रहे।
उसने घर में कुछ नहीं बताया और गुरूवार रात को घर से निकल गई। गश्त कर रहे पुलिस वाले उसे थाने ले आए, तब मामला खुला। इसके बाद ही घर में मालूम चला।

एक दिन पहले भी की छेड़छाड़

पीडिता के पिता ने बताया कि उसकी बेटी निजी कॉलेज में बीएससी द्वितीय वर्ष की छात्रा है। वह रोज शाम को ट्यूशन जाती थी। अब जाकर मालूम हुआ कि उसके साथ इतनी बड़ी घटना हो गई। बेटी ने बताया कि मंगलवार को भी आरोपी पुलिसकर्मी उसे परेशान कर रहे थे। इनकी आएदिन की हरकतों से परेशान होकर वह घर से निकली थी।

एक गैरहाजिर, दूसरा उपस्थिति लगाकर गायब

दोनों आरोपी पुलिस लाइन में पदस्थ हैं। पिछले कई महीनों से इनकी ड्यूटी सुपेला थाने के जरिए अस्पताल में लगाई जाती रही है। रक्षित निरीक्षक अंजलि एरेवार ने बताया कि बुधवार को प्रकाश पांडेय ने लाइन में आकर हाजिरी लगाई थी। इसके बाद उसकी जानकारी नहीं है। सौरभ ड्यूटी पर नहीं आया।

यह क्या माजरा है!

दोनों आरोपी पुलिसकर्मी छावनी थाने में पहुंचे थे। यहां पीडिता के परिजन और उनका आमना-सामना भी हुआ था। इनकी माने तो वह लोग मामले को रफा-दफा करने की बात कह रहे थे। शाम तक पुलिस इनको हिरासत में लिए जाने की बात कहती रही, लेकिन देर रात एफआईआर के बाद थाना प्रभारी ने इनके कस्टडी में होने से इनकार कर दिया।

रात नौ बजे मेडिकल, आज फिर होगी जांच

बुधवार रात नौ बजे दुर्ग जिला अस्पताल में पीडिता का प्रारंभिक मेडिकल परीक्षण किया गया। स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. ज्योति शर्मा ने बताया कि अभी प्रारंभिक जांच की है। गुरूवार को मेडिकल परीक्षण किया जाएगा।

छावनी थाना

प्रकरण दर्ज करने की बजाय पीडिता को छोड़ आए घर

छावनी थाना पुलिस के सामने गैंगरेप मामले का खुलासा हुआ, लेकिन इस मामले में प्रकरण दर्ज करने की बजाय पीडिता को उसके घर छोड़ दिया गया। दोपहर करीब 1.30 बजे परिजन उसे लेकर फिर थाने पहुंचे। यहां उसके बयान दर्ज करने के लिए विशेष थाने की प्रभारी आईआर खैरानी को बुलवाया गया। वे पीडिता को मेडिकल जांच के लिए साथ ले गई। इनके साथ पीडिता की मां भी गई।
थाना प्रभारी अलेक्जेंडर किरो ने कहा - जिस समय पीडिता थाने पहुंची उसका बयान लेने महिला स्टाफ नहीं था। विशेष थाना की टीआई को बुलवाया। बयान के बाद महिला अधिकारी चिकित्सकीय परीक्षण के लिए अस्पताल ले गई। इसके बाद क्या हुआ नहीं मालूम। वैसे भी घटना सुपेला थाना क्षेत्र की है। मैने वहां जानकारी दे दी है।

सुपेला थाना

व्यस्तता बताकर टालमटोल करते रहे खुद थाना प्रभारी
घटना सरकारी सुपेला अस्पताल में हुई थी। यह सुपेला थानांतर्गत आता है। छावनी थाने से गंभीर प्रकरण की जानकारी मिलने पर भी कोई सक्रियता नजर नहीं आई। मुलाहिजा के लिए ले जाई गई पीडिता के बारे में जानने परिजन थाने गए, लेकिन वहां से उन्हें जानकारी नहीं होने का कहकर लौटा दिया गया। थाना प्रभारी देर रात तक यही कहते रहे कि मैं थाने पहुंचकर ही कुछ कह पाऊंगा।
थाना प्रभारी राकेश जोशी ने कहा - मैं दिनभर पंचायत चुनाव की ड्यूटी में व्यस्त था। देर शाम को फोन पर जानकारी मिली थी, लेकिन प्रकरण के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है। पीडिता को कौन ले गया और उसका मुलाहिजा हुआ या नहीं, इस बारे में कुछ नहीं मालूम। थाने पहुंचने के बाद ही मैं कुछ कह पाऊंगा।

महिला पुलिस
मुलाहिजा कराने निकली टीम रात नौ बजे पहुंची अस्पताल

छावनी थाने से जानकारी मिलने पर विशेष थाना प्रभारी अपनी टीम के साथ यहां पहुंची। करीब तीन बजे वह पीडिता को मुलाहिजा कराने ले गई। इनके साथ पीडिता की मां भी थी, लेकिन शाम सात बजे तक पीडिता न तो दुर्ग जिला अस्पताल पहुंची और न ही थाने वापस आई। पीडिता के भाई ने जब उनसे बात की तो उन्होंने बताया कि थोड़ी देर में वापस आ जाएंगे।
सात घंटे क्यों घुमाती रही पुलिस - पीडिता के अनुसार पुलिस टीम उसे थाने से एसपी ऑफिस ले गई थी। वहां उससे पूछताछ की गई, फिर उसे स्मृति नगर पुलिस चौकी ले जाया गया। यहां महिला अधिकारी ने दो घंटे पूछताछ की। उससे बार-बार पूछा गया कि घटना सही है या गलत। बाद में अस्पताल ले गए।

एक्सपर्ट कमेंट

क्या है कानून

यह बेहद संवेदनशील मामला है। पीडिता जिस भी थाने में शिकायत करने पहुंची वहां तत्काल शून्य में अपराध दर्ज कर लेना चाहिए था। बाद में संबंधित थाना को भेजा जाता। बिना एफआईआर दर्ज कि ए चिकित्सकीय परीक्षण के लिए ले जाना और करीब सात घंटे बाद भी परिजन को कोई जानकारी नहीं देने से पुलिस की नीयत पर सवाल खड़े करता है। अमर चोपड़ा, वरिष्ठ अधिवक्ता


नामांकन रैली के बहाने शक्ति प्रदर्शन, नेतागीरी भी खूब चमकाई गई

08 January 2015
बिलासपुर। पंचायत चुनाव के लिए नामांकन के अंतिम दिन 110 लोगों ने परचे भरे। वहीं जिले की 25 जिला पंचायत सदस्यों के लिए 205 लोगों ने नामांकन दाखिल किए हैं। इनकी जांच 8 जनवरी को की जाएगी। इसके बाद 10 जनवरी तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। इसी दिन प्रत्याशियों को चुनाव चिन्ह दिए जाएंगे। मतदान 28 जनवरी, 1 और 4 फरवरी को होगा।
जिला पंचायत सदस्य के लिए नामांकन दाखिल करने के अंतिम दिन भाजपा, कांग्रेस के साथ ही बसपा के प्रत्याशी और नेता शक्ति प्रदर्शन करते नजर आए। कलेक्टोरेट में पूरे दिन भारी गहमागहमी रही और भीड़ की वजह से रह-रहकर सड़क पर जाम लगता रहा। भीड़ देखकर नगरीय निकाय चुनाव के दौरान के हालात याद आ गए।
तीन चरणों में होने वाले जिला पंचायत सदस्यों के चुनाव को लेकर शहर से लेकर गांवों तक में सियासत तेज हो गई है। जिला पंचायत की 25 सीटों पर सदस्य के चुनाव के लिए पिछले कुछ दिनों से नामांकन फॉर्म लेने व रिटर्निंग अफसरों के पास जमा करने का काम जारी था।
बुधवार को पर्चा दाखिल करने का अंतिम दिन था। जो पहले नामांकन दाखिल कर चुके थे, वे भी और जो नहीं कर सके थे वे भी, कलेक्टोरेट पहुंचे। दोपहर 12 बजे तक नामांकन फार्म लेने वालों की ही भीड़ दिखाई दी। इसके बाद अगले तीन घंटे यानी पूरी दोपहर कलेक्टोरेट में अलग-अलग राजनीतिक दलों के नेता समर्थकों का नामांकन दाखिल करवाने पहुंचने लगे। भाजपा नेता व तखतपुर विधायक राजू सिंह क्षत्री, भाजपा जिला अध्यक्ष राजा पांडेय वहां नजर आए। वहीं पूर्व उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. कृष्णमूर्ति बांधी, जिला पंचायत अध्यक्ष अंजना मुलकलवार, जिला पंचायत सदस्य समीरा पैकरा, मस्तूरी इलाके से सुनील तिवारी, कांग्रेस के आशीष सिंह, जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष राजेंद्र शुक्ला, बसपा नेता शिवा माली के कार्यकर्ताओं की मौजूदगी से कलेक्टोरेट में काफी देर तक गहमागहमी रही। नेताओं के बीच हंसी-ठिठोली होती रही, वहीं नामांकन दाखिल करने के पहले जुलूस निकालकर वे शक्ति प्रदर्शन करते दिखाई दिए।
जुलूस आता देखकर कलेक्टोरेट के मेन गेट पर ताला जड़ दिया गया। कई लोग दूसरे दरवाजे से परिसर में दाखिल हो गए। कइयों ने एसपी ऑफिस की ओर से कलेक्टोरेट में पहुंचकर नेतागिरी चमकाने की कोशिश की।

आम जनता जाम में फंस गई

नामांकन रैली के कारण कलेक्टोरेट की सड़क के सामने भीड़ लग गई। इसकी वजह से सड़क पर जाम लग गया और आने-जाने वालों को परेशानी का सामना करना पड़ा। जिन्हें जाने की जल्दी थी, वे दूसरे रास्ते तलाशते रहे। जिनके वाहन जाम में फंस गए थे, वे चाहकर भी भीड़ से नहीं निकल सके। ट्रैफिक जाम की सूचना मिलने के बाद पुलिस वहां पहुंची।

पूर्व जिपं सदस्य का नाम गायब

तखतपुर सीट से शंकर माली के भाई व पूर्व जिला पंचायत सदस्य शिवा माली भी चुनाव लड़ना चाहते हैं लेकिन उनका नाम मतदाता सूची से गायब हो गया है। इसकी शिकायत उन्होंने उप जिला निर्वाचन अधिकारी से की है। इस मामले पर कार्रवाई के लिए तीसरे दिन भी वे स्थानीय निर्वाचन कार्यालय के चक्कर लगाते नजर आए।

10 जनवरी तक होगी नामवापसी

10 जनवरी को शाम 4.00 बजे तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। इससे पहले 8 जनवरी को नामांकन फॉर्म की स्क्रूटनी कर दस्तावेजों की जांच की जाएगी। इधर राजनीतिक दलों में नाम वापसी को लेकर प्रयास तेज हो गए हैं। जहां एक ही पार्टी के दो नेताओं ने फॉर्म जमा किए हैं, वहां टकराव से बचने नाम वापसी की कोशिशें की जा रही है।


नक्सलियों ने आठ वाहनों को किया आग के हवाले

07 January 2015
रायपुर। प्रदेश की सीमा से लगे तेलंगाना के खमम जिले के थाना पेरू अंतर्गत ग्राम टेकुलगुड़ा में सड़क निर्माण कार्य में लगे टिप्पर,जेसीबी व रोड रोलर समेत आठ वाहनों को नक्सलियों ने आग के हवाले कर दिया। घटना से ठेकेदार को लाखों पए का नुकसान होना बताया गया है।
जानकारी के अनुसार हैदराबाद की किसी फर्म के द्वारा वाजे़़ड तहसील में स़़डक निर्माण का कार्य किया जा रहा है। मंगलवार को दर्जन भर से अधिक हथियार बंद नक्सल वहां पहुंचे। उन्होंने काम में लगे मुंशी एवं मजदूरों को वहां से चले जाने का हुक्म दिया। इसके बाद वहां ख़़डे चार टिप्पर,तीन जेसीबी व एक रोड रोलर का डीजल टैंक फो़़डकर उसमें आग लगा दी। घटना से सभी वाहन बुरी तरह जल गए हैं। घटना के बाद नक्सली भाग ख़़डे हुए। घटना के बाद काफी संख्या में पुलिस बल मौके पर रवाना किया गया।


नक्सलियों को घूमता देख पूर्व विधायक का घर छोड़ भाग निकले थे जवान

07 January 2015
कांकेर। पूर्व विधायक मंतूराम पवार के घर जब नक्सली घुसे तो सुरक्षा में तैनात पुलिस जवान बजाए मोर्चा लेने के मंतूराम के परिवार को नक्सलियों के हवाले कर दीवार कूद कर भाग खड़े हुए। 6 जवानों में से दो पहले ही ड्यूटी से दो नदारद थे और तीन के नक्सलियों के आने के बाद भागने के बाद मौके पर अकेले बचे जवान के सामने स्वयं को नक्सलियों को समर्पित करने के सिवाए दूसरा कोई रास्ता नहीं था।

गोलियां चलाने के बजाए नक्सलियों को देख भाग निकले थे जवान

नक्सलियों को सामने देख अत्याधुनिक स्वचलित हथियारों से लैस जवानों के पास इतनी भी हिम्मत नहीं थी कि वो एक गोली भी चला सकें। मंतूराम पवार के निवास के सामने नक्सलियों से सामना करने न तो मोर्चा था और न ही जवान मुस्तैद थे। वहीं पुलिस इस पूरी लपरवाही से वाकिफ नक्सली अपनी पूरी तैयारी के साथ आए और आसानी से घर में घुस बड़ी संख्या में हथियार लूट कर चले गए। इसके बाद पूरी रात पुलिस बजाए नक्सलियों को पकड़ने अपनी कमजोरी को दुरूस्त करने मशक्कत करती रही।
रात भर में मोर्चा तैयार किया गया और सुबह जांच में आला अधिकारी घटना स्थल पर पहुंचे जो सिवाए लकीर पीटने के कुछ नहीं कर सके। अधिकारियों के घटना स्थल पहुंचने पर उसे पूरी तरह छावनी में बदल दिया गया। यहां भारी भरकम फोर्स लगाई गई जबकि उनकी जरूरत उससे कहीं ज्याद मंहगे और अत्याधुनिक हथियार लूट ले गए नक्सलियों के पीछा करने की थी।
अधिकारियों के आने पर घटना स्थल को सील कर दिया गय और कुछ मार्गो से आम लोगों के आने जाने पर भी प्रतिबंध लगाया गया। खानापूर्ति करने सुबह घर के बाहर एक विजिटर रजिस्टर भी रख उसमें आने जाने वाले लोगों के नाम दर्ज किए जाने लगे। सुबह एडीजीपी आरके विंज, डीआईजी दिपांसु काबरा, एसपी कांकेर राजेंद्र दाश के अलावा सीमासुरक्षा बल के अधिकारियों ने घटना स्थल का मुआयना किया। और ड्यूटी में तैनात सभी पुलिस जवानों को निलंबित कर दिया।
नक्सली को देख ऐसे भागे जवान : सोमवार रात मंतू पवार के परिवार की सुरक्षा के लिए एक चार का बल तैनात किया गया था, लेकिन संवेदनशील स्थिति को देखते एक आरक्षक की अतिरिक्त व्यवस्था की गई थी। कुल 6 जवानों में दो पहले ही लापरवाही करते हुए आरक्षक सुमन दिवाकर तथा सहायक आरक्षक जगन्नाथ भोजन करने चले गए। शेष बचे चार जवानों में गेट पर सहायक आरक्षक राजकुमार आंचल हथियार से लैस था। दो विनोद नेताम व दिनेश मंडावी कमरे में हथियार रख बाहर अलाव जलाने की तैयार कर रहे थे। एक राकेश साहू कमरे में था। इसी दौरान रात 8 बजे नक्सली सविता पवार के पीछे पीछे घर के अंदर घुसे और गेट में तैनात जवान को पकड़ लिया, लेकिन जवान हथियार वहीं छोड़ स्वयं को नक्सली के कब्जे से छुड़ा भाग खड़ा हुआ। नक्सलियों के अंदर घुसते ही दो जवान विनोद नेताम व दिनेश मंडावी मकान के पीछे भागे और एक पेड़ के सहारे दीवार से कूद कर भाग गए। जबतक नक्सली कमरे में बैठे राकेश साहू को पकड़ लिया और मारपीट कर कमरे में रखे हथियार को भी लूट लिए।
हमले से वाकिफ नहीं थी सविता : घटना के दौरान घर में मंतूराम पवार की पत्नी सविता पवार के अलावा उनके बच्चे व एक भांजा मौजूद था। सविता पवार के अनुसार रात 8 बजे वह अंदर आई तो एक युवक हथियार लेकर अंदर आया। रात में इस समय ड्यूटी बदलती है इस लिए वह समझ नहीं पाई। और मोबाईल में बात करते अंदर चली गई। इसे बाद बाहर क्या हुआ उन्हें नहीं मालूम। कुछ देर बाद उनकी 10 वर्षीय पुत्री निक्की पवार ने उन्हें नक्सलियों के आने की जानकारी दी। जिसके बाद वह बरामदे से नक्सलियों की हरकत को देखते रही और उनके जाने के बाद घर से बाहर भी निकली।

पखांजूर में मंतूराम के घर तैनात सभी छह सुरक्षा बल निलंबित

पखांजूर में पूर्व विधायक मंतूराम पवार के घर सोमवार रात नक्सली धावे और हथियार लूटने की घटना को गंभीरता से लेते हुए कांकेर एसपी राजेंद्र दाश ने ड्यूटी में तैनात सभी 6 जवानों को निलंबित कर दिया है। वारदात के दूसरे दिन एडीजीपी आरके विज, डीआईजी दीपांशु काबरा, एसपी कांकेर राजेंद्र दाश के अलावा बीएसएफ के अधिकारियों ने घटनास्थल का मुआयना किया और घटना की प्रत्यक्षदर्शी मंतूराम पवार की पत्नी सविता पवार से चर्चा की। फिलहाल ड्यूटी में लापरवाही के आरोप में सभी छह सुरक्षाबलों को निलंबित कर घटना की जांच की जा रही है।


दो लोगों पर मानव तस्करी का मामला दर्ज

07 January 2015
जांजगीर-चांपा। उत्तरप्रदेश के आजमगढ़ स्थित एक ईंट भट्ठे में बंधुवा मजदूरी के लिए भेजने वाले दो लोगों के खिलाफ पुलिस ने मानव तस्करी का मामला दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है।
पामगढ़ क्षेत्र के ब्यास नगर व अकलतरा क्षेत्र के कोटमी सोनार के 13 लोग अपने 13 नन्हे-मुन्हे बच्चों के साथ बीते 4 माह से ग्राम धोतर, थाना गंभीरपुर, तहसील लालगंज, जिला आजमगढ़ यूपी में राजेश कुमार के ईंट भट्टे में बंधुवा मजदूरी कर रहे थे। भिलौनी पामगढ़ निवासी दुर्गा सिंह दिनकर व जोरेला निवासी मनहरण सूर्यवंशी ने इन ग्रामीणों को धोखे से आजमगढ़ पहुंचाकर मानव तस्करी का शिकार बनाया था।
पीडि़त ग्रामीण अपने बच्चों के साथ राजेश कुमार के ईंट भट्ठे में बेगारी कर रहे थे। राजेश केवल रोटी के टुकड़े देकर मजदूरो से काम ले रहा था। महिला मजदूरो को मालिक और उसके गुंडों का अत्याचार तक सहना पड़ा। महिलाओं के साथ छेड़छाड़ और बत्तमीजी आम बात थी। 30 दिसम्बर 2014 को आजमगढ़ प्रशासन ने १२ बच्चे, १३ पुरूष-महिला समेत २५ बंधुवा लोगों को मुक्त कराया था।
मजदूर जैसे तैसे गांव पहुंचे और मंगलवार की सुबह मामले की रिपोर्ट थाने में दर्ज कराई गई। पामगढ़ टीआई आरए छात्रे ने बताया कि झनक राम की रिपोर्ट पर जमादार दुर्गा सिंह दिनकर व मनहरण सूर्यवंशी के खिलाफ मानव तस्करी की धारा ३७०, ३४ के तहत जुर्म दर्ज किया गया है। आरोपियों की तलाश की जा रही है।


ब्रेन ट्यूमर से संघर्ष करते पूनम बन गई प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट

06 January 2015
रायपुर। ब्रेन ट्यूमर से संघर्ष करते हुए बास्केटबॉल खिलाड़ी पूनम चतुर्वेदी नेशनल चैंपियनशिप की प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट बन गई। राजस्थान के भीलवा़़डा में खेली जा रही 65वीं सीनियर नेशनल चैंपियनशिप में अपने बेहतरीन खेल की बदौलत पूनम ने छत्तीसग़़ढ महिला टीम को लगातार दूसरी बार सीनियर नेशनल चैंपियन बना दिया। पूनम ने चैंपियनशिप में 118 अंक बनाए।
दिल्ली के साथ हुए खिताबी मुकाबले में पूनम ने 48 अंक बनाए। उनके इस प्रदर्शन की बदौलत छत्तीसग़़ढ ने खिताबी मुकाबले में दिल्ली को 84-75 से हराया। पूनम ने पूरे चैंपियनशिप में सर्वाधिक अंक बनाए हैं। सेमीफाइनल में उन्होंने रेलवे के खिलाफ 27 अंक बनाए थे। पूनम इसी साल सीनियर खिला़ि़डयों में शामिल हुई हैं। उन्हें पिछली बार सीनियर चैंपियन टीम की तरफ से खेलने का मौका नहीं मिला था। पिछले साल तक पूनम जूनियर टीम की तरफ से खेलती थीं।

दो महीने बाद होना है ऑपरेशन

पिछले कुछ सालों से पूनम को ब्रेन ट्यूमर है। पूनम का दो महीने बाद ऑपरेशन होना है। बेंगलुरू के अस्पताल में उनका रेगुलर चेकअप होता है। ऑपरेशन कहां होगा यह अभी तय नहीं हुआ। पूनम के पापा श्री राम चतुर्वेदी कानपुर में यूपी पुलिस में हैं।

जूनियर टीम को दिलाए 7 स्वर्ण

पूनम पिछले पांच साल से भिलाई के छत्तीसग़़ढ बास्केटबॉल संघ के हॉस्टल में रहती हैं। और, वहीं रहकर बास्केटबॉल की कोचिंग लेती हैं। उन्होंने पिछले साल कटक में हुए जूनियर नेशनल चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में 65 अंक बनाकर रिकॉर्ड बनाया था। पूनम ने बतौर कप्तान छत्तीसग़़ढ को जूनियर में सात स्वर्ण पदक दिलाए हैं।


तीन ट्रैक्टर में लगा दी आग

06 January 2015
जांजगीर-चांपा। छेरछेरा की पहली रात तुस्मा गांव के शरारती युवकों ने तीन ट्रैक्टर में मिट्टी तेल उड़ेलकर आग लगा दी। इस घटना में तीनों ट्रैक्टर के टायर जलकर खाक हो गए। आगजनी से एक लाख रुपए का नुकसान होना बताया जा रहा है। घटना शिवरीनारायण थाना क्षेत्र के तुस्मा ग्राम की है।
पुलिस के अनुसार अशोक साहू पिता गिरधारी ने रविवार की रात अपने तीन ट्रैक्टर को घर के बाहर रखा था। रात करीब ९ बजे तक सब-कुछ ठीक था। सुबह ४ बजे कुछ लोगों ने उसके ट्रैक्टर के टायर को जलते देखा और इस बात की जानकारी अशोक को दी। अशोक ने जैसे-तैसे कर ट्रैक्टर के टायर से आग को बुझाने का प्रयास किया, लेकिन आग पर काबू नहीं पाया जा सका।
ऐसे में टुल्लू पंप से पानी लाकर टायर में लगी आग पर काबू पाया गया। तब तक तीनों ट्रैक्टर के टायर जल गए थे। टै्रैक्टर मालिक के अनुसार जले हुए टायर की कीमत एक लाख रुपए है। मामले की रिपोर्ट पीडि़त ने थाने में दर्ज कराई है। पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ धारा ४३५, ४२७ के तहत जुर्म दर्ज किया है।


राज्य के कई हिस्सों में हल्की बारिश, दिन ठंडा, रात में राहत

06 January 2015
रायपुर. छत्तीसगढ़ में तेजी से मौसम में बदलाव हो रहा है। बुधवार रात और गुरुवार को राज्य के मनेंद्रगढ़, बिलासपुर और पेंड्रारोड में बारिश हुई। हालांकि इससे तापमान में कोई खास गिरावट नहीं आई है। अगले चौबीस घंटे में राज्य के कुछ इलाकों में मध्यम वर्षा या गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है। बादल भी छाए रहेंगे।
जैसी की आशंका थी, बंगाल की खाड़ी में ताकतवर हुए चक्रवात के असर से राजधानी में गुरुवार की शाम से बादल नजर आने लगे और नए साल के स्वागत के जश्न के दौरान शहर में कई जगह बूंदाबांदी हुई।
रातभर बादल रहने की वजह से ठंड कम हो गई। पहली जनवरी को सुबह से राजधानी में घने बादल छाए रहे और दोपहर में दो-तीन बार आउटर में बूंदाबांदी हुई। दिनभर तेज तथा सर्द हवा चली, इसलिए दिन में ही लोगों को गर्म कपड़ों में देखा गया। हालांकि बादलों के कारण रात में ठंड कम रही। मौसम विशेषज्ञों ने शुक्रवार को भी हल्के बादल रहने, कहीं-कहीं बूंदाबांदी और दिन में ठंडी हवा चलने के आसार जताए हैं।
दक्षिण-पूर्वी दिशा से आने वाली नम हवा के कारण राजधानी ही नहीं, पूरे प्रदेश में बादल छाए हुए हैं। बस्तर और रायपुर संभाग के अधिकांश जिलों में बादल घने हैं। इन इलाकों में गुरुवार को रात से बूंदाबांदी शुरू हो गई थी। बिलासपुर संभाग में सुबह के बाद असर शुरू हुआ। वहां भी कुछ इलाकों में अच्छी बारिश हुई। बिलासपुर में तो लगभग एक सेमी पानी बरस गया।

तेज हवा से दिन ठंडा

बादल छाए रहने और हवा की रफ्तार 8 से दस किलोमीटर प्रति घंटा रहने के कारण हल्की ठंड महसूस हुई। दिनभर बारिश के हालात जरूर बने लेकिन रायपुर में पानी नहीं बरसा। दिन का तापमान 24.5 डिग्री रहा। यह सामान्य से तीन डिग्री कम है। फिर भी, तेज हवा के कारण दिन में कुछ ज्यादा ही ठंड महसूस की गई। रात में हवा की रफ्तार कुछ कम हुई। बादल रहने की वजह से तापमान में ज्यादा गिरावट नहीं आई। यह 17.6 डिग्री दर्ज किया गया।

50 जगहों पर जल रहे अलाव

कड़ाके की ठंड से राहत देने के लिए 50 जगहों पर अलाव जल रहे हैं। सभी जोन के कमिश्नरों ने अलाव जलाने वाले स्थानों के लिए अलग से लकड़ी खरीदने की व्यवस्था की है। मुख्य रुप से रेलवे स्टेशन, अस्पताल और बस अड्डे पर रात को अलाव जलाने के लिए कहा गया है।
इसके अलावा रैन बसेरा स्थल, शारदा चौक, मल्टी लेवल पार्किंग के पास, नवीन मार्केट, गुढ़ियारी पड़ाव, डगनिया, टाउन हाल, मंगल बाजार सहित अन्य स्थानों पर अलाव जलाए जा रहे हैं।

आज बदली पर ठंड से राहत

अंबिकापुर में बूंदाबांदी और पेंड्रारोड में 2.3 मिलीमीटर पानी गिरा। इधर, पिछले 24 घंटे में मनेंद्रगढ़ में सबसे ज्यादा 20 मिलीमीटर पानी गिरा। बिलासपुर और पेंड्रारोड में 10 मिलीमीटर के आसपास बारिश हुई। लालपुर मौसम केंद्र के सहायक मौसम विज्ञानी जेके इंगले के अनुसार अगले एक-दो दिनों तक प्रदेश में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश या गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है। राजधानी में बादल रहेंगे। न्यूनतम तापमान 18 डिग्री के आसपास रहेगा, अर्थात ठंड से राहत रहेगी।


नगरीय निकाय चुनाव परिणाम: कांग्रेस चार, भाजपा चार, दो निर्दलीय

05 January 2015
रायपुर। छत्तीसगढ़ के नगरीय निकाय चुनाव में कांग्रेस ने राज्य की सत्ताधारी भाजपा को करारा झटका देते हुए 10 में से 4 नगर निगमों में जीत दर्ज की। दो निकायों में निर्दलीय जीते और भाजपा को 4 निगमों में जीत मिली। रायपुर, जगदलपुर, अंबिकापुर और कोरबा में कांग्रेस के प्रत्याशी जीते। भाजपा को दुर्ग, बिलासपुर, धमतरी और राजनांदगांव में जीत मिली है। रायग़़ढ और चिरमिरी में दो निर्दलीय जीते हैं। छत्तीसग़़ढ के नगरीय निकाय चुनाव में दोपहर करीब डे़़ढ बजे तक की स्थिति में कांग्रेस ने ब़़ढत बनाते हुए भाजपा को बैकफुट पर ढकेल दिया है। राज्य में तीन बार विधानसभा और लोकसभा में निर्णायक जीत हासिल करने वाली भाजपा को इस नगरीय निकाय चुनाव में क़़डी चुनौती का सामना करना प़़डा है। नतीजों को लेकर कांग्रेस में उत्साह और भाजपा में निराशा देखी जा रही है।

कांग्रेस यहां से जीती

रायपुर नगर निगम में कांग्रेस के महापौर उम्मीदवार प्रमोद दुबे ने भाजपा के सच्चिदानंद उपासने को हराया। जगदलपुर नगर निगम में कांग्रेस जतिन जायसवाल ने भाजपा के योगेंद्र कौशिक को पराजित किया। अंबिकापुर नगर निगम में कांग्रेस के अजय तिर्की ने भाजपा की मंजूषषा भगत को हराया। कोरबा नगर निगम में कांग्रेस की रेणु अग्रवाल विजयी रहीं। उन्होंने भाजपा की कांति दुबे को शिकस्त दी।

भाजपा यहां से विजयी

राजनांदगांव नगर निगम में भाजपा के मधुसूदन यादव लगभग 35 हजार वोटे से जीते हैं। उन्होंने कांग्रेस के विजय पांडेय को मात दी। बिलासपुर नगर निगम में भाजपा के महापौर प्रत्याशी किशोर राय चुनाव जीत गए हैं। उन्होंने कांग्रेस के रामशरण यादव को हराया। पहली बार नगर निगम बने धमतरी में भाजपा की अर्चना चौबे ने कांग्रेस उम्मीदवार डॉ. सरिता दोषी को पराजित कर दिया। दुर्ग में भाजपा की चंद्रिका चंद्राकर ने कांग्रेस की नीलू ठाकुर को हराया।

रचा इतिहास

रायगढ़ नगर निगम में निर्दलीय उम्मीदवार मधु किन्नर ने 9500 वोट से जीत दर्ज कर इतिहास रच दिया। वे छत्तीसग़़ढ की पहली थर्ड जेंडर महापौर होंगी। चिरमिरी नगर निगम में निर्दलीय डमरू रेड्डी विजयी हुए हैं। उन्होंने भाजपा के संजय सिंह को पटखनी दी। श्री डमरू कांग्रेस से बागी होकर मैदान में थे। इसके बावजूद उन्हें जनता का जबरदस्त रिस्पांस मिला।

भाजपा को दो निगमों का नुकसान, कांग्रेस एक में बढ़त

2009 के नगरीय चुनाव के मुकाबले भाजपा को छह नगर निगमों में मिली हार के साथ ही दो सीटों के नुकसान का सामना करना प़़डा है। पिछले चुनाव में जगदलपुर, अंबिकापुर, चिरमिरी, रायग़़ढ और कोरबा में जीत मिली थी। लेकिन इस बार हार का सामना करना प़़डा है। बिलासपुर में पिछला चुनाव हारने वाली भाजपा ने जीत के साथ वापसी की है।
मुख्यमंत्री डॉ. रमनसिंह के निर्वाचन क्षेत्र राजनांदगांव में जहां 2009 में कांग्रेस का कब्जा था। वहां भाजपा ने जीत दर्ज की है। वहीं दुर्ग में पिछले चुनाव में भाजपा का कब्जा था। इस बार भी भाजपा यहां जीतने में सफल रही है। धमतरी में पहली बार हुए नगर निगम चुनाव में भाजपा का परचम लहराया है। यहां से कांग्रेस ने जगदलपुर, अंबिकापुर और कोरबा में जीत हासिल करने के साथ ही राजधानी रायपुर पर अपना कब्जा बरकरार रखा है। लेकिन राजनांदगांव और बिलासपुर में 2009 मिली जीत कायम नहीं रख पाई। रायग़़ढ और चिरमिरी में कांग्रेस और भाजपा दोनों निर्दलियों ने पटखनी दी। रायग़़ढ में जीतने वाली मधु किन्नर छत्तीसग़़ढ पहली थर्ड जेंडर महापौर होंगी। इसी तरह चिरमिरी में कांग्रेस के बागी डमरू रेड्डी ने कांग्रेस सहित भाजपा को करारी शिकस्त दी है।

सबसे बड़ी जीत

नगरीय निकाय चुनाव में सबसे बड़ी जीत राजनांदगांव में भाजपा की रही। यहां से पूर्व सांसद मधुसूदन यादव भाजपा के प्रत्याशी थे। उन्होंने कांग्रेस के विजय पांडेय को 35241 मतों से पराजित किया।


मेयर के चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी मधु किन्नर निर्वाचित घोषित

05 January 2015
रायपुर। छत्तीसगढ़ निकाय चुनावों के लिए मतगणना रविवार को जारी है। 10 नगर निगम समेत 154 स्थानीय निकायों के लिए हो रही इस मतगणना में कुछ दिलचस्प नतीजे सामने आए हैं। रायगढ़ नगर निगम चुनाव में निर्दलीय चुनाव लड़ रहीं किन्नर मधु ने बीजेपी उम्मीदवार को 4537 वोटों से हराया। छत्ताीसगढ़ में पहली बार किसी किन्नर को मेयर की कुर्सी पर बैठने का मौका मिलेगा। बता दें कि छत्ताीसगढ़ में थर्ड जेंडर के लिए सरकार ने अलग से नीति बनाई है। सरकार की नीति में थर्ड जेंडर के ऑपरेशन कर उन्हें सामान्य जिंदगी देने की कोशिश भी शामिल किया गया है। इन ऑपरेशन का खर्च भी सरकार वहन कर रही है। यहां पर एक और किन्नर अमृता सोनी को सरकार ने एड्स अवेयरनेस कार्यक्रम के लिए अपना नोडल अधिकारी नियुक्त किया है।
लोकसभा चुनाव और हाल ही में कई राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों में जीत दर्ज करने वाली बीजेपी को इन निकाय चुनावों से काफी उम्मीदें हैं। जहां तक पिछले निकाय चुनावों की बात है, बीजेपी ने 6 नगर निगम जबकि कांग्रेस ने 3 पर कब्जा जमाया था।
इस बार धमतारी म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन में पहली बार चुनाव हो रहा है। छत्ताीसगढ़ निकाय चुनाव में इस बार पहली बार ईवीएम मशीनों का इस्तेमाल हुआ है। इसके अलावा, मतदाताओं को नोटा विकल्प भी दिया गया है।


छत्तीसगढ़ में नगरीय निकाय चुनाव की मतगणना आज

05 January 2015
रायपुर। छत्तीसगढ़ में नगरीय निकाय चुनाव के 11 हजार से अधिक उम्मीदवारों का भाग्य रविवार को ईवीएम से खुलेगा। दोनों चरणों की मतगणना सभी निकाय मुख्यालयों में होगी। ईवीएम में डाले गए मतों की गिनती सुबह नौ बजे से शुरू होगी। निकायों के चुनाव में 11 हजार 301 उम्मीदवारों की प्रतिष्ठा दांव पर है।
प्रदेश के 154 नगरीय निकायों के प्रतिनिधि चुनने के लिए दो चरणों में 29 व 31 दिसंबर को मतदान हुआ था। इनमें 10 नगर निगम, 39 नगर पालिका व 105 नगर पंचायत शामिल हैं।
महापौर पद के लिए 101, नगर पालिका के अध्यक्षों के लिए 208 व नगर पंचायत अध्यक्षों के लिए 488 उम्मीदवार मैदान में थे। इन निकायों में 2861वार्डो के पाषर्षद पद के लिए 10504 उम्मीदवार भाग्य आजमा रहे हैं।


सीआरपीएफ डीजी ने किया छत्तीसगढ़ का गोपनीय दौरा

02 January 2015
रायपुर। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बस्तर का सीआरपीएफ के नवनियुक्त डीजी प्रकाश मिश्रा ने गोपनीय दौरा किया। बिना किसी पूर्व सूचना के प्रकाश मिश्रा बस्तर के जगदलपुर, बीजापुर, दंतेवा़़डा और चिंतलनार का दौरा किया। 29-30 दिसंबर के उनके पूरे कार्यक्रम को बेहद गोपनीय रखा गया। इस दौरान प्रकाश मिश्रा ने नक्सल प्रभावित क्षेत्र में तैनात सीआरपीएफ के आला अधिकारियों के साथ चर्चा की और सुरक्षा उपायों के साथ इंटेलिजेंस को मजबूत करने का निर्देश दिया। पुलिस मुख्यालय के उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार नक्सल प्रभावित क्षेत्र में तैनात जवानों का मनोबल ब़़ढाने के लिए श्री मिश्रा ने चिंतागुफा में एक रात बिताई। बताया जा रहा है कि अपनी यात्रा के दौरान उन्होंने छत्तीसगढ़, ओडिशा और आंध्रप्रदेश के त्रिकोणीय जंक्शन को लेकर भी अधिकारियों से विचार विमर्श किया। नक्सलियों के क्रॉसिंग पॉइंट को देखते हुए हाल ही में यहां पुलिस कैंप खोला गया है। डीजी ने सीआरपीएफ के एंटी नक्सल ऑपरेशन, कोबरा बटालियन और राज्य पुलिस के आला अधिकारियों से मुलाकात की और जरूरी दिशानिर्देश जारी किए।


परिणाम से पहले लगाया बधाई का होर्डिंग्स, आयोग में की शिकायत

02 January 2015
राजनांदगांव। परिणाम नहीं आने के बाद भी अति उत्साह में भाजपा प्रत्याशी को एतिहासिक जीत की बधाई देते हुए होर्डिंग्स लगाने के मामले की निर्वाचन आयोग में शिकायत हो गई है।
जिला कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता रूपेश दुबे ने मानव मंदिर चौक पर भाजपा के कुछ नेताओं द्वारा जीत की होर्डिंग लगाने को सत्ता के मद में मस्त भाजपाइयो का बेहुदा प्रदर्शन करार देते हुए शिकायत की है। दुबे का कहना है कि मतगणना को तीन दिन शेष है और यह कृत्य निर्वाचन की निष्पक्षता व गोपनीयता को धूमिल करने वाला है। विज्ञापन एजेंसी को ऐसे आपत्तिजनक होर्डिंग लगाने की अनुमति देना भी गलत है।

निरस्त किया जाए

एजेंसी पर निर्वाचन नियमों का उल्लंघन करने के लिए कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। होर्डिंग अनुबंध को तत्काल निरस्त किया जाना चाहिए। जिला निर्वाचन अधिकारी को शिकायत पत्र प्रस्तुत किया गया है।


राज्य के कई हिस्सों में हल्की बारिश, दिन ठंडा, रात में राहत

02 January 2015
रायपुर. छत्तीसगढ़ में तेजी से मौसम में बदलाव हो रहा है। बुधवार रात और गुरुवार को राज्य के मनेंद्रगढ़, बिलासपुर और पेंड्रारोड में बारिश हुई। हालांकि इससे तापमान में कोई खास गिरावट नहीं आई है। अगले चौबीस घंटे में राज्य के कुछ इलाकों में मध्यम वर्षा या गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है। बादल भी छाए रहेंगे।
जैसी की आशंका थी, बंगाल की खाड़ी में ताकतवर हुए चक्रवात के असर से राजधानी में गुरुवार की शाम से बादल नजर आने लगे और नए साल के स्वागत के जश्न के दौरान शहर में कई जगह बूंदाबांदी हुई।
रातभर बादल रहने की वजह से ठंड कम हो गई। पहली जनवरी को सुबह से राजधानी में घने बादल छाए रहे और दोपहर में दो-तीन बार आउटर में बूंदाबांदी हुई। दिनभर तेज तथा सर्द हवा चली, इसलिए दिन में ही लोगों को गर्म कपड़ों में देखा गया। हालांकि बादलों के कारण रात में ठंड कम रही। मौसम विशेषज्ञों ने शुक्रवार को भी हल्के बादल रहने, कहीं-कहीं बूंदाबांदी और दिन में ठंडी हवा चलने के आसार जताए हैं।
दक्षिण-पूर्वी दिशा से आने वाली नम हवा के कारण राजधानी ही नहीं, पूरे प्रदेश में बादल छाए हुए हैं। बस्तर और रायपुर संभाग के अधिकांश जिलों में बादल घने हैं। इन इलाकों में गुरुवार को रात से बूंदाबांदी शुरू हो गई थी। बिलासपुर संभाग में सुबह के बाद असर शुरू हुआ। वहां भी कुछ इलाकों में अच्छी बारिश हुई। बिलासपुर में तो लगभग एक सेमी पानी बरस गया।

तेज हवा से दिन ठंडा

बादल छाए रहने और हवा की रफ्तार 8 से दस किलोमीटर प्रति घंटा रहने के कारण हल्की ठंड महसूस हुई। दिनभर बारिश के हालात जरूर बने लेकिन रायपुर में पानी नहीं बरसा। दिन का तापमान 24.5 डिग्री रहा। यह सामान्य से तीन डिग्री कम है। फिर भी, तेज हवा के कारण दिन में कुछ ज्यादा ही ठंड महसूस की गई। रात में हवा की रफ्तार कुछ कम हुई। बादल रहने की वजह से तापमान में ज्यादा गिरावट नहीं आई। यह 17.6 डिग्री दर्ज किया गया।

50 जगहों पर जल रहे अलाव

कड़ाके की ठंड से राहत देने के लिए 50 जगहों पर अलाव जल रहे हैं। सभी जोन के कमिश्नरों ने अलाव जलाने वाले स्थानों के लिए अलग से लकड़ी खरीदने की व्यवस्था की है। मुख्य रुप से रेलवे स्टेशन, अस्पताल और बस अड्डे पर रात को अलाव जलाने के लिए कहा गया है।
इसके अलावा रैन बसेरा स्थल, शारदा चौक, मल्टी लेवल पार्किंग के पास, नवीन मार्केट, गुढ़ियारी पड़ाव, डगनिया, टाउन हाल, मंगल बाजार सहित अन्य स्थानों पर अलाव जलाए जा रहे हैं।

आज बदली पर ठंड से राहत

अंबिकापुर में बूंदाबांदी और पेंड्रारोड में 2.3 मिलीमीटर पानी गिरा। इधर, पिछले 24 घंटे में मनेंद्रगढ़ में सबसे ज्यादा 20 मिलीमीटर पानी गिरा। बिलासपुर और पेंड्रारोड में 10 मिलीमीटर के आसपास बारिश हुई। लालपुर मौसम केंद्र के सहायक मौसम विज्ञानी जेके इंगले के अनुसार अगले एक-दो दिनों तक प्रदेश में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश या गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है। राजधानी में बादल रहेंगे। न्यूनतम तापमान 18 डिग्री के आसपास रहेगा, अर्थात ठंड से राहत रहेगी।


छत्तीसगढ़ में आज से प्लास्टिक की थैली पर प्रतिबंध

01 January 2015
रायपुर। छत्तीसगढ़ में नए साल के पहले दिन से प्लास्टिक की थैली पर प्रतिबंध लग जाएगा। राज्य सरकार ने 1 जनवरी से छत्ताीसगढ़ को प्लास्टिक थैली मुक्त क्षेत्र घोषित करने का निर्णय लिया है। नगरीय प्रशासन और विकास विभाग की अधिसूचना के अनुसार, प्लास्टिक कैरी बैग [थैलियां] पर्यावरण को अल्पकालीन और दीर्घकालीन नुकसान पहुंचाते हैं और मनुष्यों तथा पशुओं के स्वास्थ्य को भी संकट में डालते हैं। प्लास्टिक कैरी बैग का उपयोग हानिकारक है। गटर तथा नालियों को अवरुद्ध करने के साथ ही गंभीर पर्यावरणीय समस्याएं पैदा होती है। प्लास्टिक कैरी बैग प्रतिबंधित होने के बाद विकल्प के लिए पेपर बैग्स, कपडे़ के थैले, जूट से निर्मित बैग आदि की व्यवस्था की जाएगी। एक जनवरी 2015 से प्रदेश में कोई उद्योग प्लास्टिक कैरी बैग का निर्माण नहीं करेगा। कोई व्यक्ति, दुकानदार, विक्रेता, थोक विक्रेता या फुटकर विक्रेता, व्यापारी, फेरी लगाने वाले या रेहडी वाले सामान देने के लिए प्लास्टिक कैरी बैग का उपयोग नहीं करेंगे।


भालू के हमले से हुई ग्रामीण की मौत

01 January 2015
रायगढ़। धरमजयगढ़ के राजकोट में भालू के हमले से ग्रामीण की मौत का मामला सामने आया है। उक्त घटना २८ दिसंबर की शाम की है। जब ग्रामीण खाना बनाने के लिए लकड़ी लाने पास के जंगल गया था। मृतक के शरीर पर भालू के हमले के निशान मिले हैं। पुलिस मर्ग कायम कर मामले की जांच कर रही है।
धरमजयगढ़ के राजकोट निवासी शंकर प्रसाद राठिया पिता मोहन सिंह राठिया ४५ वर्ष रविवार की शाम जंगल की ओर लकड़ी लेने गया था। पर देर रात होने के बाद भी ग्रामीण घर नहीं पहुंचा।
इससे परेशान परिजनों ने सोमवार को उसकी तलाश शुरू की। इसी क्रम में स्थानीय महुआ नतना जंगल में पतासाजी के दौरान परिजनों को शंकर की लाश मिली। जो किसी जानवर के हमले के बाद मौत की कहानी बयां कर रही थी। परिजनों की सूचना पर धरमजयगढ़ पुलिस घटना स्थल पर पहुंच शव को कब्जे में लिया।
वहीं पोस्टमार्टम के लिए उसे अस्पताल भेजा। प्रारंभिक जांच के बाद पुलिस ने बताया कि ग्रामीण की मौत भालू के हमले के बाद हुई है। मृतक के चेहरे व अन्य शरीर पर भालू के पंंजों के निशान पाए गए हैं। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।


नगरीय निकाय चुनाव में द‍िखा वोटर्स पावर, भाजपा की बैटरी चार्ज

01 January 2015
रायपुर । विधानसभा और लोकसभा चुनावों के बाद नगरीय निकाय चुनाव में भी भाजपा राज्य में बढ़त बनाती दिख रही है। दूसरे चरण के मतदान के बाद दैनिक भास्कर द्वारा कराए गए सर्वे में साफ संकेत मिल रहे हैं कि प्रमुख शहरों में भाजपा के महापौर जीतकर आएंगे। नगर पालिकाओं में भी भाजपा का ही दबदबा दिख रहा है।
सर्वे से मिले रूझान बता रहे हैं कि लगभग 70 फीसदी निकाय भाजपा के कब्जे में जा रहे हैं। मसलन राज्य के 10 नगर निगमों में चुनाव हुए, जिनमें से सात पर भाजपा और तीन पर कांग्रेस के महापौर जीतने की संभावना दिख रही है। इसी प्रकार नगर पालिकाओं और नगर पंचायतों में भी भाजपा को स्पष्ट बढ़त के संकेत हैं।

13.95% वोट भाजपा को, 9% ने दिया मोदी के नाम पर वोट

मतदाताओं का मूड जानने के लिए नगरीय निकायों में सीधे उनसे संपर्क किया और पूछा कि आपने किस आधार पर वोट डाला है। राज्य के 25 हजार 496 मतदाताओं से यह सर्वे कराया गया। मिली जानकारी से यह स्पष्ट है कि अभी भाजपा से काफी उम्मीदें हैं। कांग्रेस की तुलना में ज्यादातर लोगों ने भाजपा को पसंद किया है।
भाजपा को इसमें 13.95 प्रतिशत और कांग्रेस को 11.11 लोगों ने पसंद किया है। हालांकि यह चुनाव स्थानीय मुद्दों पर हुआ है, बावजूद इसके नौ प्रतिशत लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ध्यान में रखकर वोट किया है। उनकी तुलना में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी को देखकर वोट डालने वाले सिर्फ 4 प्रतिशत ही निकले। केंद्र और राज्य के बाद अपने शहर में भाजपा की सरकार होने की उम्मीद लिए वोट डालने वाले आठ प्रतिशत से अधिक लोग हैं। इन सबसे हटकर प्रत्याशी की छवि के आधार पर वोट डालने वाले 21 प्रतिशत से अधिक हैं। निकायों में बदलाव के लिए 16 प्रतिशत लोगों ने वोट डाला है।

सर्वे एक नजर में

शामिल लोग : 25,496
भाजपा के पक्ष में : 13.95%
कांग्रेस के पक्ष में : 11.11%
मोदी के नाम पर : 09%
सोनिया-राहुल के नाम पर : 04%
प्रत्याशी की छवि : 21%
बदलाव के लिए : 16%

73 फीसदी वोटिंग, धमतरी में सर्वाधिक

नगरीय निकाय चुनाव के दूसरे चरण में भी वोटरों ने भारी गर्मजोशी दिखाई। प्रदेशभर में औसत 78 फीसदी वोटिंग हुई। सबसे अधिक वोटिंग का रिकॉर्ड पहले चरण की तरह इस बार भी धमतरी जिले के नाम रहा। यहां 88 प्रतिशत वोटिंग हुई। वहीं सबसे कम 60 फीसदी वोटिंग नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में हुई। कुम्हारी नगर पालिका परिषद छोड़ दें, तो प्रदेशभर में लगभग शांतिपूर्ण मतदान हुआ। इस दौरान तमाम जगहों पर ईवीएम में गड़बड़ी की भी शिकायतें मिली हैं, इसके चलते वोटिंग कुछ देर तक प्रभावित रही।
राज्य निर्वाचन आयोग के आयुक्त पीसी दलेई ने बुधवार को वोटिंग प्रतिशत की जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेशभर में अच्छी वोटिंग हुई है। हालांकि उन्होंने वोटिंग प्रतिशत के अभी और बढ़ने की संभावना है। चुनाव के दूसरे चरण में बुधवार को प्रदेश में 103 नगरीय निकायों में वोटिंग हुई। इनमें 20 नगरपालिका परिषद और 83 नगर पंचायत शामिल है।

दूसरे चरण में किस जिले में कितनी वोटिंग

जिला वोटिंग प्रतिशत

बिलासपुर- 75
मुंगेली 78
जांजगीर चांपा 80
कोरबा 83
सरगुजा 86
सूरजपुर 74
बलरामपुर 80
कोरिया 74
रायगढ़ 85
जशपुर 78
रायपुर 75
बलौदाबाजार 76
गरियाबंद 76
महासमुंद 76
धमतरी 88
दुर्ग 83
बालोद 81
बेमेतरा 80
राजनांदगांव 81
कबीरधाम 80
बस्तर 82
कोंडागांव 81
कांकेर 77
दंतेवाड़ा 60
सुकमा 65

13 स्थानों पर निर्विरोध निर्वाचन

नगर पंचायत-चंद्रपुर (वार्ड-9), पारागांव (वार्ड-5), लखनपुर (वार्ड-12), किरोड़ीमल नगर (वार्ड-2), धरमजयगढ़ (वार्ड-7), जशपुर( वार्ड-3,10), माना कैंप(वार्ड-14), बिलाईगढ़( वार्ड-3,12,14), पंखाजुर( वार्ड-2)। नगरपालिका परिषद-सरायपाली(वार्ड-5)। राज्य निर्वाचन आयोग ने इन सभी 13 जगहों पर निर्विरोध निर्वाचन की घोषणा की।

इन सात जगहों पर नहीं हुआ चुनाव

सरिया(वार्ड-4), सिंगेश्वर(1,2,15), चिखलाकसा(वार्ड-1,14,15)। प्रदेश के इन सात जगहों पर चुनाव के दौरान किसी भी प्रत्याशी ने नामांकन ही नहीं दाखिल किया। ऐसे में अब यहां छह महीने के बाद दोबारा चुनाव कराएं जाएंगे।

पिता की अर्थी को कांधा देने से पहले दिया वोट

कुरूद में मतदान के प्रति जिम्मेदारी की मिसाल नगर निकाय चुनाव के दूसरे चरण में भी देखने काे मिला। मंगलवार रात 10 बजे व्यवसायी डुमनलाल देवांगन का निधन हो गया। बुधवार सुबह व्यवसायी के बेटे हेमंत व सोमन ने पहले वोट दिया फिर पिता को कांधा। पहले चरण में भी आमदी के यशवंत देवांगन ने मां के अंतिम संस्कार से पहले वोट दिया था।


7 इंजीनियरों के यहां से छह करोड़ से ज्यादा नकद बरामद

31 December 2014
रायपुर। छत्तीसगढ़ में पहली बार भ्रष्टाचार की एक बड़ी कड़ी कानून के शिकंजे में फंसी है। एसीबी और ईओडब्ल्यू की संयुक्त टीम की छापामार कार्रवाई में सिंचाई व आरईएस के 7 अधिकारियों के यहां से साढे़ छह करोड़ रुपए जब्त किए जा चुके हैं। इस छापे से प्रदेश के सरकारी महकमे में खलबली मच गई है। खासकर ऐसे अफसर, जो सरकारी निर्माण कार्यों के लिए स्वीकृत करोड़ों की राशि का बंदरबाट करने से बाज नहीं आ रहे हैं। एसीबी के एडीजी मुकेश गुप्ता ने साफ कहा है कि छापे की कार्रवाई पूरा होने में अभी कई दिन लगेंगे, क्योंकि इन अधिकारियों के भ्रष्टाचार का नेटवर्क बहुत बड़ा है।
एसीबी के एडीजी मुकेश गुप्ता ने मंगलवार दोपहर पत्रकारों से चर्चा करते हुए छापे की विस्तृत कार्रवाई पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि अब तक सिंचाई विभाग के दो कार्यपालन अभियंता, चार उप अभियंता और ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के एक कार्यपालन अभियंता के बिलासपुर, रायपुर, दुर्ग, धमतरी, उमरिया के 16 ठिकानों पर छापे डाले गए हैं। छापे में करोड़ों की चल-अचल संपत्ति का पता लगा है। जांच अभी भी जारी है।

अकूत संपत्ति का मालिक चीफ इंजीनियर

एडीजी गुप्ता ने बताया कि सिंचाई विभाग के चीफ इंजीनियर बृजराज दास वैष्णव के अधीनस्थ एक्जीक्यूटिव इंजीनियर रैंक के अधिकारी आलोक अग्रवाल के विरुद्ध ईओडब्ल्यू में 29 दिसम्बर को पद के दुरपयोग का अपराध धारा 13 [1] [डी], 13 [2] भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 कायम किया गया है। जांच में यह पता चला है कि श्री वैष्णव के पास बड़ी मात्रा में अकूत सम्पत्ति है। अवैध आय के करोड़ों रुपए इकट्ठा कर स्वयं अपने पास न रखकर इनके द्वारा अपराधिक षड्यंत्र कर अपने अधीनस्थ एवं विश्वस्त सब इंजीनियर अबरार बेग, जीआर देवांगन, विनय सिंह के पास कहीं अन्यत्र खपाने तक रखवाता है। इस सूचना पर आलोक अग्रवाल के बिलासपुर एवं उमरिया [मप्र] स्थित निवास स्थानों पर दबिश देकर तलाशी कार्रवाई की गई। बिलासपुर में छापे की कार्यवाही देर शाम तक जारी थी, जबकि उमरिया वाले घर को सीलकर वहां सुरक्षा गार्ड तैनात कर दिया गया है। जप्ती की विस्तृत जानकारी कार्रवाई पूरी होने के बाद सामने आ सकेगी।

पांच अफसरों से 6 करोड़ बरामद

एसीबी के घेरे में फंसे सिंचाई विभाग के पांच अधिकारियों के पास से अब तक सवा 6 करोड़ रुपए से अधिक की नकद राशि जा की जा चुकी है। पहली बार बडे़ पैमाने पर नकद राशि जा होने से ईओडब्ल्यू, एसीबी की टीमों को बहुत परेशानी हुई। इन अधिकारियों के बैंक एकाउन्ट, लॉकर, चल-अचल सम्पत्ति एवं अन्य इन्वेस्टमेंट एवं पार्टनरशिप की जांच किया जाना शेष है।

बड़ी कार्रवाई ने उड़ाए होश

एसीबी की इस कार्रवाई ने अफसरों के होश उड़ा दिए हैं। जानकार सूत्रों ने बताया कि एसबीबी के निशाने पर अभी दो बडे़ अधिकारी और हैं, जिनके पास करोड़ों की बेनामी संपत्ति है। संपत्ति की पूरी जानकारी हाथ लगने के बाद छापे की कार्रवाई की जाएगी। एडीजी मुकेश गुा ने बताया कि छत्तीसगढ़ में इतने बृहद स्तर पर एक साथ एक ही दिन में ईओडब्ल्यू, एसीबी की छापामार कार्रवाई पहली बार हुई है, जिसमें करोड़ों की बेनामी सम्पत्ति का खुलासा हुआ है, जिसमें नकद 6 करोड़ 31 लाख रुपए बरामद होना अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है। पूरी जांच में आयकर विभाग को भी शामिल किया जा रहा है। एडीजी ने कहा कि चीफ इंजीनियर रैंक का अधिकारी छत्तीसगढ़ में पहली बार रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार हुआ है तथा पहली बार ही 5 लाख रूपये की बड़ी रकम ट्रैप में रिश्वत के रूप में जप्त हुई है। छापे में मिली करोड़ों की नकद राशि मात्र से यह अनुमान है कि इन अधिकारियों द्वारा लम्बे समय से सैकड़ों करोड़ का घोटाला किया गया है, जो कि मात्र कमीशन इत्यादि का न होकर निर्माण कायरें में बृहद स्तर के घोटाले की ओर इंगित करता है, जिसकी भी जांच की जाएगी।

सर्च वारंट लेकर अलसुबह ठिकानों में धावा

आधा दर्जन अफसरों के 16 ठिकानों पर छापा मारने के सवा से अधिक कर्मचारियों को लगाया गया था। इसके लिए ईओडब्ल्यू, एसीबी द्वारा विधिवत न्यायालय से वारंट लेकर प्रात: से लगातार सर्च कार्यवाही की गई , जो देर रात और बुधवार तक चलने की सम्भावना है।
मुकेश गुप्ता, एडीजी, एसीबी/ईओडब्ल्यू ने बताया कि छापे की कार्रवाई में कई दिन लगेंगे क्योंकि बेनामी संपत्ति इकट्ठा करने वाले अधिकारियों का नेटवर्क बड़ा है। पैसों का हिसाब-किताब चल रहा है। नकद राशि बढ़ने की संभावना है।


एक जनवरी से आठ बजे लगेगे स्कूल

31 December 2014
भिलाई। कड़ाके की ठंड को देखते हुए पहली पाली में लगने वाले स्कूलों के समय में बदलाव किया गया है। सुबह 7 बजे के बजाए अब 8 बजे से स्कूल लगेंगे। डीईओ ने यह आदेश जारी किया है। फिलहाल यह व्यवस्था 15 जनवरी तक रहेगी।
यह आदेश जिले के सभी शासकीय, निजी और भिलाई बीएसपी स्कूलों में लागू होगा। आदेश में मौसम को देखते हुए तारीख को आगे बढ़ाया जा सकता है। बच्चों की परेशानी को देखते हुए पत्रिका ने 31 दिसंबर के अंक में "स्कूलों में ठिठुरते पहुंच रहे हैं बच्चे" शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी। इसके बाद डीईओ ने यह फरमान जारी किया है।

ऎसे होगी व्यवस्था

दो पालियों में लगने वाले स्कूलों में पहली पाली एक घंटे देरी से शुरू होगी, लेकिन छूटने का समय 12 बजे ही होगा। इसके लिए स्कूलों में 35 से 40 मिनट के पीरियडों का समय कम किया जाएगा। दूसरी पाली अपने समय पर ही लगेंगी। उसमें कोई फेरबदल नहीं होगा।

सभी स्कूलों में लागू

मौसम के असर को देखते हुए कुछ निजी स्कूलों ने पहले ही समय बदल रखा है। आदेश के बाद एक तारीख से सभी स्कूलों का समय बदलेगा। सभी स्कूलों के लिए इस आदेश का पालन अनिवार्य है। सभी स्कूलों में डीईओ को फरमान बुधवार शाम तक पहुंच जाएगा। इसके बाद एक जनवरी से बच्चे बदले हुए समय पर स्कूल जाऎंगे।
ठंड को देखते हुए सुबह सात बजे की बजाए आठ बजे स्कूल लगाने के आदेश दिए गए हैं। फिलहाल 15 जनवरी तक समय बदला गया है अगर ठंड ज्यादा रही तो इसे और बढ़ाया जाएगा।


एरिगेशन के भ्रष्ट अफसरों के घर छापे, पांच करोड़ कैश मिले

31 December 2014
दुर्ग। राज्य आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो (ईओडब्ल्यू) और एंटी करप्शन ब्यूरो एसीबी ने मंगलवार को एरिगेशन विभाग के पांच भ्रष्ट अफसरों के घरों में एक ही दिन में ताबड़तोड़ छापे मारे। बिलासपुर के हसदेव बांगो कछार व गंगा कछार के चीफ इंजीनियर बीडी वैष्णव 5 लाख लेते रंगे हाथों पकड़े गए। उनके घर से 35 लाख कैश मिला। खारंग जल संसाधन विभाग के प्रभारी ईई आलाेक अग्रवाल से करीब 3 करोड़ कैश मिला।
अग्रवाल ने पूरी रकम अपने मातहत काम करने वाले तीन सब इंजीनियरों के घरों में रखवाई थी। देर रात तक कैश की गिनती चल रही थी। संकेत हैं कि अफसरों ने राज्य के कई शहरों के साथ बाहर भी मिलकियत खरीदी है। एसीबी की टीम ने लंबे समय तक इन्वेस्टिगेशन करने के बाद छापे मारे।
एसीबी ने सुबह सबसे पहले हसदेव बांगो कछार व गंगा कछार के चीफ इंजीनियर ब्रजराज दास वैष्णव के भिलाई स्थित निवास पर पहुंची। वैष्णव ने किसी ठेकेदार से बिल पास करने के लिए 40 लाख मांगे थे। उन्हीं पैसों की पहली किश्त के रूप में 5 लाख रुपए नगद लेते हुए उन्हें पकड़ा गया। एडीजी मुकेश गुप्ता ने छापे की कार्रवाई के दौरान ही पत्रकारों को बताया कि अफसर के घर की तलाशी में 35 लाख मिले। करोड़ों की संपत्ति के दस्तावेज भी जब्त किए गए। अफसर को रंगे हाथों पकड़ने के पहले एसीबी की टीम ने चीफ इंजीनियर के बंगले से निकलते समय खारंग डिवीजन बिलासपुर के ईई आलोक अग्रवाल को पकड़ा। तलाशी के दौरान उनके पास से कुछ फाइलें और लिफाफों में डेढ़ लाख रुपए मिले। अग्रवाल को एसीबी के रायपुर स्थित कार्यालय ले जाकर पूछताछ की गई। अग्रवाल ने बिलासपुर में अपने अधीनस्थ अधिकारियों के पास उनकी रकम रखे होने की जानकारी दी। उसके बाद एक साथ छापे मारे गए और करोड़ों की काली कमाई का खुलासा हुआ।

शहर पहुंचे और सबसे पहले चेंबर सील किया

अफसर से जानकारी मिलने के बाद रायपुर एसीबी की टीम दिन तुरंत बिलासपुर रवाना हुई। सुबह 11 बजे सिंचाई विभाग के बिलासपुर खारंग डिवीजन के दफ्तर पहुंची और आलोक अग्रवाल के चेंबर को सील किया। उसके बाद आलोक के विश्वस्त और अधीनस्थ सब इंजीनियर अबरार बेग, विजय सिंह ठाकुर और जीआर देवांगन के निवास पर छापा मारा। अबरार बेग के तालापारा स्थित मकान में अबरार के पास से आलोक अग्रवाल का 2.04 करोड़ रुपए से भरा बैग बरामद किया। अबरार बेग के पास उनके खुद के 6-7 लाख रुपए मिले हैं।
खारंग डिवीजन के सब इंजीनियर जीआर देवांगन के बंधवापारा स्थित मकान से ईई अग्रवाल के 60 लाख रुपए, अयोध्या नगर निवासी सब इंजीनियर विजय सिंह ठाकुर के घर के 23 लाख रुपए बरामद किए। इसी प्रकार ईई के भाई पवन अग्रवाल के अलावा परिवार के उन लोगों के यहां भी छापे मारे गए, जिनके नाम पर संपत्ति होने की आशंका थी।

पहली बार इतनी बड़ी टीम

प्रदेश स्तर पर कुछ अन्य जिलों में भी ईओडब्ल्यू और एसीबी की कार्रवाई की। 22 राजपत्रित अधिकारी, 26 निरीक्षक और 100 से अधिक कर्मचारी की टीम बनाई गई। सभी के लिए न्यायालय से वारंट लेकर लगातार कार्रवाई की जा रही है। कार्रवाई देर रात तक चलने की संभावना है। अफसरों के धमतरी, जगदलपुर और दुर्ग में भी अफसरों के ठिकानों पर छापा मारकर दस्तावेज और नगद राशि जब्त की।

किससे क्या मिला

- मातहत अफसरों के पास 2.87 करोड़ रुपए रुपए मिले
- सब इंजीनियर अबरार बेग के पास मिले 2.04 करोड़ रुपए।
- सब इंजीनियर जीआर देवांगन के पास मिले 60 लाख रुपए।
- वीके सिंह ठाकुर के पास मिले 23 लाख रुपए

रंगे हाथों पकड़े गए सिंचाई विभाग के ईई

एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने सिंचाई विभाग में पदस्थ ईई एम कुजूर को 45 हजार रुपए रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है। आरोपी कुजूर एक ठेकेदार से पुराने बिल को पास करने के एवज में रिश्वत की मांग की थी। कुजूर छुईखदान में पदस्थ हैं। आय से अधिक संपत्ति होने के संदेह में उनके आशीष नगर रिसाली स्थित आवास पर भी छापा मारा गया।

आरईएस के एक्जीक्यूटिव इंजीनियर भी फंसे

एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम ने पद्मनाभपुर स्थित ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के कार्यपालन अभियंता जीवराखन लाल ध्रुव के घर में दबिश दी। ध्रुव के पास से जगदलपुर में पेट्रोल पंप, रायपुर हाउसिंग बोर्ड, रामनगर धमतरी, भठगांव धमतरी, दुर्ग में मकान के दस्तावेज मिल चुके हैं। संपत्ति की कीमत दस करोड़ से अधिक आंकी गई है।


पहले दौर के नगरीय चुनाव में 70 फीसदी मतदान

30 December 2014
रायपुर। छत्तीसगढ़ में नगरीय निकायों के पहले चरण के लिए हुए मतदान में दस नगर निगमों, 19 नगर पालिकाओं और 22 नगर पंचायतों के लिए वोट डाले गए। बस्तर में सुबह सात बजे से अपरान्ह तीन बजे तक और बाकी शहरी क्षेत्रों में सुबह आठ से शाम पांच बजे तक मतदान चला। शाम छह बजे तक मिली जानकारी के अनुसार सभी निकायों के लिए औसतन लगभग 70 फीसदी मतदान हुआ है। इन चुनावों में दस नगर निगमों में अधिकांश में भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधा मुकाबला होते दिखा।
मतदान के लिए सुबह से ही मतदाताओं में उत्साह दिखा। सुबह सर्द मौसम होने के बावजूद लोग वोट डालने निकले। राजधानी रायपुर सहित कई स्थानों पर वोटरों की लंबी-लंबी कतारें देखी गई। प्रदेश में हुए इन चुनावों में आम तौर पर शांति व्यवस्था कायम रही। कुछ राजनीतिक खींचतान और मामूली विवाद के अलावा किसी भी स्थान से कोई अप्रिय वारदात की सूचना नहीं है।
नक्सल प्रभावित बस्तर में 56, कोंडागांव में 71, दंतेवाड़ा में 68, सुकमा में 65, कांकेर में 60, नारायणपुर में 63 और बीजापुर में 54 फीसदी मतदान हुआ। प्रदेश में सुबह नौ बजे तक औसत 12 फीसदी, दोपहर बारह बजे तक 34 फीसदी, तीन बजे तक 60 फीसदी व शाम चार बजे तक 65 फीसदी वोट पड़ चुके थे।
दंतेवाड़ा जिले के किरंदुल में शराब बांटे जाने की शिकायत के बाद पुलिस ने भाजपा कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया है। अंबिकापुर के एक मतदान केन्द्र में फर्जी वोटिंग की शिकायत मिलने के बाद सेक्टर अधिकारी के साथ विवाद हुआ। कोरबा के निर्मला स्कूल मतदान केन्द्र में दो पार्टी के कार्यकर्ताओं के बीच नोंकझोक हुई। बाद में पुलिस की समझाइश के बाद मामला शांत हुआ। कोरबा के एक वार्ड में चार बार ईवीएम खराब हुई, जिसके कारण मतदाताओं को घंटों कतार में खडे़ रहना पड़ा। बिलासपुर के वार्ड नंबर 7 में ईवीएम में बैलेट यूनिट में खराबी थी। शिकायत होने के पहले कई लोग मतदान कर चुके थे। आनन-फानन में पीठासीन अधिकारी ने बैलेट यूनिट को बदला। इस दौरान करीब आधा घंटा मतदान रका रहा।

पहली बार मतदान करने वालों से लेकर शतायु पार वोटर भी पहुंचे

राजधानी रायपुर से लेकर दूर-दराज के इलाकों तक वोट डालने वालों का उत्साह देखते ही बन रहा था। ब़़डी संख्या में ऐसे मतदाता तो आए ही जिन्होंने पहली बार मताधिकार का प्रयोग किया। गरियाबंद जिले में एक महिला मतदाता जिनकी आयु 103 साल है, ने मताधिकार का इस्तेमाल किया।

राज्यपाल बलरामजी दास टंडन ने रायपुर के छत्तीसगढ़ क्लब स्थित मतदान केन्द्र पर जाकर मतदान किया। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, उनके सांसद पुत्र अभिषेक सिंह सपरिवार कवर्धा में मतदान करने पहुंचे। विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल ने संत कंवरराम स्कूल कटोरातालाब में मतदान किया। कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने बढ़ईपारा स्थित प्राथमिक शाला में परिवार सहित मताधिकार का प्रयोग किया।


वोटिंग के पहले पकड़ाया फर्जी मतदाता

30 December 2014
जांजगीर-चांपा। जांजगीर के वार्ड नंबर 10 स्थित पोलिंग बूथ क्रमांक २० में एक फर्जी मतदाता पकड़ा गया। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है।
सोमवार को शहर के पोलिंग बूथ क्रमांक 20 में मतदान ठीक-ठाक चल रहा था।
दोपहर लगभग 3 बजे सिवनी निवासी दीनदयाल सूर्यवंशी वहां वोट देने पहुंचा। वह वोटिंग करने के फिराक में था, तभी पोलिंग बूथ में मौजूद एजेंटों ने फर्जी मतदाता दीनदयाल को पहचान लिया। एजेंटों ने इस मतदाता के खिलाफ आवाज उठाई और उसके इस वार्ड का मतदाता नहीं का दावा किया। संदेही दीनदयाल अपने आप को यह साबित नहीं कर पाया कि वह इसी वार्ड का मतदाता है। आखिरकार उसने अपनी गलती कबूल कर ली।
दीनदयाल ने बताया कि वह ओमप्रकाश पिता नर्मदा प्रसाद सूर्यवंशी के नाम पर वोट डालने पहुंचा था। पीठासीन अधिकारी संतोष कुमार कहरा ने मामले की सूचना पुलिस को दी। पुलिस मौके पर पहुंची और आरोपी को धारा १७१ बी, १७१ एफ , ४१९ के तहत गिरफ्तार कर उसे थाने ले आई मंगलवार को उसे जेल दाखिल किया जाएगा।

तीन छात्र जबरन फंसे

वार्ड नंबर १० बोंगापार पोलिंग बूथ में ही पॉलीटेक्निक के ३ छात्रों ने मतदान के लिए मतदाता सूची में अपना नाम दर्ज कराया था। उनका नाम वोटिंग लिस्ट में था। तीनों छात्र सोमवार को जब वोटिंग के लिए पहुंचे तो वहां के एजेंट भड़क उठे। तीनों छात्रों को फर्जी करार देते हुए उन्हें मारना पीटना शुरू कर दिया। छात्रों ने एजेंटों को अपना वोटर कार्ड बताया, लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हो रही थी। इस दौरान जमकर बवाल हुआ। आखिरकार, एसडीओपी अशोक शर्मा, राजस्व विभाग के अधिकारियों ने मामले की तस्दीक की और छात्रों को सही करार दिया, तब छात्रों ने वोटिंग की।


कहीं जुबान चली कहीं भांजीं लाठियां, कहीं ईवीएम अटकी

30 December 2014
रायपुर। नगरीय निकाय चुनाव में एक दर्जन से अधिक स्थानों पर राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता एक-दूसरे से भिड़ गए। कुछ जगह विवाद मारपीट में तब्दील हो गई और कुछ लोगों को चोटें भी आई। पुलिस ने बीच बचाव करते हुए एक-दो जगह लाठियां बरसाई। कुछ जगह ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत मिली। इसके विरोध में प्रत्याशियों ने आपत्ति जताई। कडाके की ठंड के बावजूद मतदाता प्रदेश भर में वोट देने के लिए घर से निकले। सुबह की ठंड में मतदान कुछ धीमा रहा। मगर जल्द ही इसने रफ्तार पकड़ ली।

पंजे के निशान दबाया तो नहीं बजी बीप

धमतरी में ईवीएम में महापौर के कांग्रेस प्रत्याशी सरिता दोशी का पंजा छाप का 6 नंबर का बटन दबाने पर बीप की आवाज नहीं आने पर कांग्रेस नेताओं ने जमकर हंगामा किया। कन्या शाला के नंबर 1 मतदान केन्द्र में कांग्रेस के केतन दोशी एवं भाजपा के नवीन सांखला के बीच जमकर विवाद हुआ। कुर्सी पटकी गई। मौके पर मौजूद एसडीएम ने पुलिस बल के साथ बीच बचाव किया। पश्चात दोनों पक्ष कोतवाली पहुंचे। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी भीम सिंह ने कहा कि ईवीएम में कोई गड़बड़ी नहीं की जा सकती। मशीन का बैटरी लो हो गई थी, जिसे बदल दिया गया।

गड़बड़ी की शिकायत के बाद बदली मशीनें

दुर्ग नगर निगम चुनाव में ईवीएम की खराबी को लेकर शिकायत की गई। कांग्रेस की महापौर प्रत्याशी नीलू ठाकुर की शिकायत के बाद पांच बूथों की ईवीएम मशीनें बदली गई। गयानगर में एक वोटर का मत पहले ही डल गया था। इसे लेकर फर्जी मतदान की शिकायत की गई है। वहीं वार्ड 20 में आने-जाने को लेकर दो गुटों में तनाव की स्थिति बनीं। मारपीट और धक्कामुक्की जैसे हालात बने।

कार्यकर्ताओं पर भांजी लाठी

राजनांदगांव नगर निगम के वार्ड नंबर चार ढाबा में मतदान के दौरान मतदाताओं के उस समय होश उड़ गए जब मतदाता सूची में 400 मतदाताओं के नाम गायब हो हुए। बाद में पता चला कि 400 लोगों का नाम दूसरे बूथ में शिफ्ट हो गए हैं। इसे लेकर पार्टी प्रत्याशियों के साथ मतदाताओं ने वहां हंगामा शुरू कर दिया। वार्ड 38 में कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ता वहां आने-जाने वालों से वोट अपील करने लगे, वहां मौजूद अन्य प्रत्याशियों ने पुलिस अधिकारियों से इस पर आपत्ति की। इस पर टीआई राजेश चौधरी वहां पहुंचे और युवकों पर लाठी भांजी।

युवक के खिलाफ फर्जी वोटिंग का जुर्म दर्ज

जांजगीर और चांपा में गांव के एक- एक युवक मतदान करने पहुंच गए। जांजगीर के वार्ड क्रमांक 10 बोंगापार में करीब 3 बजे सिवनी निवासी युवक दिनदयाल सूर्यवंशी पिता महंगू राम सूर्यवंशी वार्ड के ओमप्रकाश पिता नर्मदा प्रसाद की वोटर पर्ची लेकर बूथ में पहुंच गया। रिटर्निंग ऑफिसर ने पूछताछ की तो वह हड़बड़ा गया उसका फोटो भी वोटर लिस्ट से नहीं मिला। आरओ ने मामला जांजगीर पुलिस को सौंप दिया। फर्जी वोटर के खिलाफ 117 घ, 419 के तहत जुर्म दर्ज कर लिया है। हालांकि युवक वोट नहीं डाल पाया था इससे पहले ही वह पकड़ा गया। चांपा में भी पोंड़ीखुर्द निवासी एक युवक आशीष पाटले पिता लखन पाटले को भी वार्ड नंबर 7 में बोगस मतदान करने की कोशिश में पकड़ा गया। सूत्रों के अनुसार उसने पूछताछ में फर्जी वोट डालने की भी बात मान ली।


पत्नी के साथ जा रहे पार्षद प्रत्याशी पर हमला

29 December 2014
रायपुर। राजधानी के लाखेनगर क्षेत्र में पत्‍‌नी के साथ एक कार्यक्रम से लौट रहे कांग्रेस के एक पार्षद प्रत्याशी को बाइक सवार दो युवक डंडे से मारकर भाग गए। उन्हें पुरानी बस्ती स्थित निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां रविवार को भोजपुरी स्टार रविकिशन उनसे मिलने पहुंचे। पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ जुर्म दर्ज कर पड़ताल शुरू कर दी है।
पुरानी बस्ती पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार लाखेनगर की रहने वाली संगीता शर्मा (45) ने रविवार की रिपोर्ट दर्ज कराई। उन्होंने बताया कि उनके पति गोवर्धन शर्मा क्षेत्र के सुधीर मुखर्जी वार्ड से कांग्रेस की तरफ से पार्षद प्रत्याशी हैं। वे शनिवार की रात लगभग डेढ़ बजे अपने पति के साथ स्कूटी से एक मुस्लिम कार्यक्रम से लौट रही थी। लाखेनगर के त्रिमूर्ति मंदिर के पास बाइक सवार दो युवकों ने उनकी गाड़ी रोकते हुए उन पर डंडे से हमला कर दिया। वे गाली-गलौज करते हुए जान से मारने की धमकी देने लगे। उनके आवाज देने पर बाइक सवार दोनों हमला वार भाग गए। प्रार्थी के पार्षद प्रत्याशी पति को पुरानी बस्ती के रामकिंकर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी हालत खतरे से बाहर है। पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है।


शहर के वार्डो में दिन भर बटी शराब

29 December 2014
जांजगीर-चांपा। कड़ाके की ठंड और चुनावी गर्मी के बीच प्रचार के अंतिम दिन रविवार को जिला मुख्यालय जांजगीर के सभी वार्डो में जमकर शराब बटी। विभिन्न पार्टियों से अध्यक्ष व पार्षद का चुनाव लडऩे वाले उम्मीदवारों ने मतदाताओं को शराब के साथ कबाब के तौर पर मुर्गी व बकरे का मांस भी जमकर परोसा। शहर में यह खेल पूरे दिन खुलेआम चला और निर्वाचन आयोग के निर्देशों की जमकर धज्जियां उड़ी, लेकिन प्रशासनिक अमला एक भी कार्रवाई नहीं कर पाया।
जिला मुख्यालय के नगरपालिका का चुनाव भारी बहुमत से जीतना भाजपा व कांग्रेस के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बन गया है। यही वजह है कि प्रत्याशियों द्वारा आयोग के निर्देशों की धज्जियां उड़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है। चुनावी शोर थमने के बाद शनिवार को पूरे दिन उम्मीदवारों ने डोर-टू-डोर प्रचार करके अपने पक्ष में समर्थन जुटाने की पूरजोर कोशिश की, इसके बावजूद जिन क्षेत्रों में उन्हें अपनी स्थिति कमजोर दिखी, वहां के मतदाताओं के बीच रविवार को शराब की नदियां बहाई गई। इतना ही नहीं, एक-एक घर में मतदाताओं की संख्या के हिसाब से बकायदा पालीथीन में मुर्गी व बकरे की मांस भी परोसी गई। रविवार को यह खेल सुबह से शुरू हुआ, जो पूरे दिन चला। इस दिन बड़े दल के उम्मीदवारों द्वारा शराब बाटे जाने की लगातार खबरें आती रही। शहर में कुछ वार्ड ऐसे भी हैं, जहां रहने वाले गरीब वर्ग के मतदाताओं को लुभाने साड़ी, बिछिया व टी शर्ट भी बाटी गई। शहर में शराब व कबाब का वितरण खुले तौर पर चला, लेकिन जिला प्रशासन सोया रहा। प्रशासन ने शराब व कबाब वितरण से संबंधित एक भी मामले दर्ज नहीं किए, जिससे अफसरों की भूमिका पर सवाल उठ रहा है।
पहले से कर ली व्यवस्था

पहले चरण के तहत २९ दिसम्बर को चार नगरपालिकाओं के लिए मतदान होना है। ऐसे में जिला निर्वाचन अधिकारी ने इन क्षेत्रों में ४८ घंटे पहले से ही शराब की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दी है। बावजूद इसके शराब के कई वार्डो में शराब की नदियां बह रही है। प्रत्याशी अपने पक्ष में माहौल तैयार करने पियक्कड़ मतदाताओं को छककर शराब पिलवा रहे हैं। बताया जाता है कि चुनाव के लिए प्रत्याशियों ने पहले से ही भारी मात्रा में शराब खरीदकर सुरक्षित स्थानों पर रख लिया है। गोपनीय स्थानों में शराब की पेटियां रखी हुई है, जहां से मांग अनुसार मतदाताओं को शराब की आपूर्ति की जा रही है, लेकिन पुलिस ने अब तक इस ओर ध्यान नहींं दिया। निर्वाचन अधिकारी भी सिर्फ आदेश-निर्देश तक सीमित हो हैं।

शराब की डिमांड ज्याद

हर चुनाव में अब शराब का अहम रोल हो गया है। साड़ी, कंबल, बिछिया, नोट बटे या न बटे, शराब जरूर बट रही है। शहर के २५ वार्डो में कुछ ऐसा ही चल रहा है। लोग एक-दूसरे से पूछ रहे कि शराब व कबाब आखिर कौन बाट रहा है। जिन वार्डो में प्रत्याशी ज्यादा है, वहां शराबी मतदाताओं की चांदी हो गई है। प्रत्याशी भी मतदाताओं को रिझाने के लिए कार्यकर्ताओं के हाथों से शराब पिलवा रहे हैं। दिन में शराब के लिए उतना ज्यादा गहमागहमी नहींं दिखी, लेकिन शाम ढलते ही चुनाव कार्यालयों के आसपास मजमा लगा रहा।


आज चुनी जा रही शहर की सरकार, बेमेतरा में ग्रामीणों ने किया बहिष्कार

29 December 2014
रायपुर। नगरीय निकाय चुनाव के पहले चरण के मतदान आज किए जा रहे हैं, प्रदेश के 10 नगर निगमों में महापौर पद के लिए आज वोटिंग हो रही है। पहले चरण में 10 नगर निगमों के साथ 19 नगरपालिका परिषद और 22 नगर पंचायतों में वोटिंग हो रही है। प्रदेश के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सुबह 7 बजे मतदान शुरू हुआ जबकि बाकि क्षेत्रों में सुबह 8 बजे से मतदान जारी है। आज वोटर्स को एक ही ईवीएम से दो वोट करने होंगे इसके लिए उन्हें दो बार बटन प्रेस करना होगा।
जगदलपुर कांकेर आदि क्षेत्रों में भारी ठंड के बावजूद लोग वोट करने पहुंच रहे हैं वहीं बेमेतरा में ग्रामीणों द्वारा चुनाव का बहिष्कार कर दिया गया है। भाटापारा में मतदान केंद्र के बाहर मतदाताओं को लुभाने को लेकर दो प्रत्याशी आपस में भिड गए वहीं राजधानी के पंडरी क्षेत्र के बूथ क्रमांक 434 में ईवीएम खराब होने की वजह से एक घंटे बाद मतदान शुरू हो पाया।

ऐसे करें वोटिंग

1. आप ईवीएम के सामने जैसे ही जाएंगे, उसमें पहले महापौर/अध्यक्ष पद के प्रत्याशियों के नाम होंगे। उसके नीचे पार्षद पद के प्रत्याशियों के नाम होंगे। मशीन मे महापौर/अध्यक्ष और पार्षद का टैग लगा होगा, ताकि आपको पहचानने में दिक्कत न आए।
2 इसके बाद आपको पहले महापौर के नीचे दिए गए प्रत्याशियों में से किसी एक प्रत्याशी के सामने के बटन को दबाना है। बटन को दबाते ही तेज बीप की आवाज आएगी। मशीन में आवाज आने तक इंतजार करना है। इसके बाद आपको आगे बढ़ना है।
3. अब आपको पार्षद पद के प्रत्याशी के लिए वोटिंग करनी है। इसमें भी आपको किसी एक प्रत्याशी के नाम और चुनाव चिन्ह के सामने वाले बटन दबाना होगा। तेज बीप की आवाज आएगी। यानि आपका वोट पड़ गया।
4. दोनों ही पदों के प्रत्याशियों के लिए वोटिंग के बाद आपको मशीन की एंड बटन दबाना है। इससे माना जाएगा कि आपने दोनों ही पदों के लिए वोटिंग कर दी है।

कितने बजे से होगी वोटिंग

नक्सल प्रभावित छह जिलों में-जिसमें कोंडागांव, नारायणपुर,दंतेवाड़ा, कांकेर, सुकमा और बीजापुर में सुबह सात बजे से तीन बजे तक। बाकी सभी जिलों में सुबह आठ बजे से शाम पांच बजे तक।

पहले चरण के चुनाव पर एक नजर
कहां-कहां होगा चुनाव: 10 नगर निगम, 19 नगरपालिका परिषद और 22 नगर पंचायत।
कितने वार्डों में होगी वोटिंग : 1250
कुल मतदान केंद्र 3339
कुल मतदाता : 2958720, पुरुष-1413776, महिला-1344944

ध्यान रखें :

पहली बार नगरीय निकाय चुनाव में ईवीएम (इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन) से वोटिंग होगी। जहां महापौर (पालिका परिषद और पंचायत में अध्यक्ष) और पार्षद पद के लिए दो अलग-अलग प्रत्याशियों को चुनना होगा। इसके लिए आपको ईवीएम में दोनों पदों के लिए दिए गए दो अलग-अलग बटन दबाने होंगे। दोनों ही बटनों के दबाने के बाद मशीन से एक बीप की आवाज आएगी। इसके बाद ही आपकी वोटिंग पूरी होगी।

ईवीएम थोड़ी अलग

नगरीय निकाय चुनाव में इस्तेमाल होने वाली यह नई ईवीएम थोडी अलग भी है। इसमें अगर एक पद के लिए भी वोटिंग करना चाहते हैं, तो वह भी कर सकेंगे। लेकिन इसके लिए आपको उस पद के लिए वोटिंग करने के बाद मशीन के सबसे अंत में दिए गए एंड बटन को दबाना होगा। यदि ऐसा नहीं करते हैं, तो आपका एक पद के लिए दिया गया वोट तो काउंट हो जाएगा, लेकिन मशीन जाम हो जाएगी। यानि अगला वोटर वोट नहीं दे पाएगा, जब तक कि मशीन को बंद करके फिर से चालू नहीं किया जाएगा। वैसे कुछ जगहों पर चुनाव आयोग ने विधानसभा और लोकसभा में इस्तेमाल की गई ईवीएम भी रखी है।

सुरक्षा के इंतजाम

नगरीय निकाय चुनाव में सुरक्षा के इंतजाम लोकल स्तर पर ही जिला पुलिस ने किया है। इसके तहत पुलिस लाइन के रिजर्व जवानों के साथ ही पड़ोसी जिलों से भी जवानों की ड्यूटी लगाई गई है। नक्सल प्रभावित जिलों में तैनात सेंट्रल फोर्स की मदद ली जा रही है। चुनाव के लिए कोई अतिरिक्त फोर्स नहीं मिली है।


रिंग रोड पर दो हादसे, चार किमी तक जाम

27 December 2014
रायपुर। रिंग रोड-2 पर गुरुवार रात 2.30 बजे और शुक्रवार दोपहर 2.30 बजे सड़क हादसे हुए। इन हादसों में एक व्यक्ति की मौत हो गई और दो बच्चों सहित तीन घायल हो गए। पहली घटना सरोरा की है और दूसरी हीरापुर की। हीरापुर में हादसे के बाद लोग सड़क पर उतर आए और चार किमी तक लंबा जाम लग गया। उरला पुलिस के मुताबिक बिलासपुर निवासी दरबार सिंह दानू (48) और हेल्पर नवीन शर्मा मिनीडोर सीजी 10 ए 5744 से माल लेकर गुरुवार रायपुर आए थे। माल खाली कर देर रात वे बिलासपुर लौट रहे थे। वहीं भनपुरी की ओर से मंडला निवासी बंटू दास पनका ट्रक सीजी 04 जेसी 8287 से टाटीबंध की ओर आ रहा था।
रिंग रोड-2 सरोरा के पास दोनों गाड़ियों में भिड़ंत हो गई। भिड़ंत इतनी जोरदार थी कि मिनीडोर ट्रक में फंस गया। इससे पहले ट्रक चालक बंटू ट्रक से कूद गया और मिनीडोर का हेल्पर नवीन भी बाहर निकल गया था। लेकिन मिनीडोर चालक दरबार सिंह अंदर फंसा रह गया। उसकी मौके पर ही मौत हो गई। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। गाड़ी को हटाने के लिए क्रेन बुलाई गई और केबिन को कटर से काटकर चालक दरबार सिंह का शव बाहर निकाला गया। पुलिस ने ट्रक चालक बंटू को हिरासत में ले लिया है। ट्रक उसी का है। वहीं नवीन को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बाल-बाल बचे भाई-बहन हीरापुर में एक तेज रफ्तार टैंकर ने दोपहिया को चपेट में ले लिया। दोपहिया पर सवार भाई-बहन दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए। दोनों को एंबुलेंस से अस्पताल ले जाकर भर्ती कराया गया। हादसे से आक्रोशित स्थानीय लोगों ने हंगामा करते हुए चक्का जाम कर दिया। पुलिस की समझाइश पर वे शांत हुए और रास्ते से हट गए। दुर्घटना की वजह से सड़क की दोनों ओर चार किलोमीटर तक जाम लग गया था, जिसे क्लियर करने में पुलिस को घंटेभर लग गया। आमानाका पुलिस के मुताबिक वीर सवारकर नगर निवासी मनदीप सिंह कौर (14) और कमलजीत सिंह (12) दोनों दोपहिया सीजी 04 एचके 5048 से वीर सावरकर नगर से अटारी की ओर जा रहे थे। वे हीरापुर चौक को जब क्रॉस कर रहे थे तभी तेज रफ्तार टैंकर सीजी 07 सी 1065 ने उन्हें चपेट में ले लिया। दोपहिया पर सवार भाई-बहन फेंका गए और दोपहिया टैंकर के नीचे आ गया।
पुलिस ने टैंकर चालक जरवाय निवासी जितेन्द्र साहू को हिरासत में ले लिया है। भाई-बहन कहां जा रहे थे, पता नहीं चल पाया है। पुलिस ने बताया कि घायल बच्चों के पिता मेहताब सिंह ट्रक चलाते है। उन्हें घटना की सूचना दे दी गई थी। दोनों बच्चों खतरे से बाहर हैं। न ब्रेकर न स्टॉपर स्थानीय लोगों का कहना था कि हीरापुर में लगातार हादसे हो रहे हैं। कई लोगों की जान भी जा चुकी है। इसके बाद भी ब्रेकर बनना तो दूर स्टॉपर तक नहीं लगा है। स्टॉपर लगाने से गाड़ियों की रफ्तार में कम रहेगी। लोग आसानी से सड़क क्रॉस कर सकेंगे। नहीं पहने थे हेलमेट पुलिस ने बताया कि हीरापुर चौक में घायल हुए भाई-बहन दोनों ने हेलमेट नहीं पहना हुआ था। दोनों सिर के बल जमीन पर गिरे थे। जबकि पुलिस लगातार लोगों से अपील कर रही है कि दोपहिया चालक गाड़ी चलाते समय हेलमेट पहनें। इसके बाद भी लोग हेलमेट नहीं लगा रहे हैं। नाबालिग के हाथों में गाड़ी हादसों के बाद भी पालक सचेत नहीं हो रहे हैं। छोटी उम्र में अपने बच्चों को गाड़ी दे रहे हैं। जो हादसों की वजह बन रही है। छोटी उम्र में बच्चे हैवी और हाई स्पीड बाइक दौड़ा रहे हैं। रफ्तार पर उनका नियंत्रण तक नहीं होता है।


दो महिलाओं ने जहर खाकर की खुदकुशी

27 December 2014
जांजगीर/चांपा। अलग-अलग घटना में दो महिलाओं ने जहर सेवन कर खुदकुशी कर ली। खुदकुशी का कारण पारिवारिक विवाद बताया जा रहा है। पहली घटना पामगढ़ क्षेत्र के कोड़ाभाट की है।
पुलिस के अनुसार ललिता साहू (21) पति लक्ष्मण साहू गुरूवार को अपने पति के साथ मायके गई थी। रात को वह पति के साथ वापस लौटी। घर में शराब व कबाब का दौर चल रहा था। रात को पति-पत्नी के बीच विवाद भी हुआ और ललिता साहू ने जहर सेवन कर लिया। उसे पामगढ़ के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। इलाज के दौरान शुक्रवार की सुबह उसकी मौत हो गई।
परिजनों का कहना है कि वह बीमारी की शिकार थी। इससे परेशान रहती थी। परेशानियों से तंग आकर उसने ऐसा कदम उठाया है। दूसरी घटना नवागढ़ थाना क्षेत्र के गांव कोटिया की है। मालती बाई (32) पति संतोष कुर्रे ने शुक्रवार की सुबह किसी कारण से जहर सेवन कर लिया। उसे नवागढ़ के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।
परिजनों का कहना है कि वह किसी बात को लेकर गुमशुम रहती थी। अलबत्ता उसे खुदकुशी की राह अपनानी पड़ी। पुलिस ने दोनों मामले की सूचना पर मर्ग कायम कर लिया है। पुलिस जांच कर रही है।


आप मुंगेली नगर पालिका जिताकर दीजिए, विकास की गारंटी हमारी : रमन

27 December 2014
मुंगेली/ बिलासपुर । नगर को जिले की सौगात दी है तो नगर के विकास का जिम्मा भी रमन सिंह का है। नगर विकास की रूपरेखा हमने तैयार कर ली है। आप हमें मुंगेली नगर पालिका जिताकर दीजिए और हम आपको विकास की गारंटी देते हैं। नगरवासी भाजपा के प्रत्याशियों को अपना आशीर्वाद प्रदान करें मैं इस जिले को माॅडल जिले का स्वरूप दूंगा।
नगरीय निकाय चुनाव में जिले में भाजपा के उम्मीदवारों के पक्ष में प्रचार करने आए मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह ने यह बात कही। वे नगर पालिका के अध्यक्ष सहित 22 वार्डों के पार्षदों के पक्ष में प्रचार करने यहां आए थे। उन्होंने कहा कि मुंगेली शुरू से ही जनसंघ का गढ़ रहा है। आज भारतीय जनता पार्टी का परचम जिले में लहरा रहा है। इस कड़ी में नगरीय निकाय चुनाव में भाजपा के उम्मीदवारों को जिताने की अपील करते हुए कहा कि जिले के कार्यकर्ता अगर एक होकर काम करंे तो इस अभेदगढ़ को कोई सेंध नहीं लगा सकता। भाजपा कार्यकर्ताओं को सीएम ने अपराजेय योद्धा बताया। उन्होंने कहा जिस तरह से लोकसभा व विधानसभा चुनाव में भाजपा के उपर मतदाताओं ने अपना भरोसा जताया है वैसा ही भरोसा नगरीय निकाय चुनाव के लिए भी रखना होगा।
उन्होंने मतदाताओं को आश्वस्त करते हुए कहा कि अगर वे इस नगर को जिले की सौगात दे सकते हैं तो इसे मॉडल जिले के रूप मे स्थापित करने की जिम्मेदारी भी निभा सकते हैं। उन्होंने पूर्व विधायक मुनीराम साहू के निधन को अपूरणीय क्षति बताया। सभा समाप्ति के बाद मुनीराम साहू के निवास में पहुंच कर परिवारजनों को ढाढस बंधाया। डाॅ. सिंह हेलीपेड से गौरव पथ होते हुए सभा स्थल पुराना बस स्टैण्ड स्थित आगर खेल परिसर पहंुचे ।
जहां उनका खाद्य मंत्री पुन्नूलाल मोहले, सांसद लखनलाल साहू, तखतपुर विधायक राजू सिंह क्षत्रीय, लोरमी विधायक तोखन साहू, नगर पालिका अध्यक्ष शैलेष पाठक, जनपद अध्यक्ष तरूण खांण्डेकर, बीजेपी अध्यक्ष पद की उम्मीदवार निर्मला मोहन भोजवानी सहित 22 वार्डों के उम्मीदवारों ने स्वागत किया।


ई-नीलामी के साथ शुरू हुआ कोल ब्लॉक आवंटन का विरोध

26 December 2014
रायपुर। देश में कोल ब्लॉक के आवंटन के लिए ई-नीलामी शुरू होने के साथ ही छत्तीसगढ़ में कोल ब्लॉक के आवंटन का विरोध शुरू हो गया है। हसदेव अरण्य क्षेत्र की 16 और मांड रायगढ़ की चार ग्राम सभाओं ने प्रस्ताव पास किया है कि उनके क्षेत्र में आने वाले कोल ब्लॉक का न तो आवंटन किया जाए, न ही नीलामी की जाए। इस इलाके में दो दर्जन कोल ब्लॉक आ रहे हैं, जिसके आवंटन का ग्राम सभाएं विरोध कर रही हैं। छत्तीसगढ़ में ऐसा पहली बार हो रहा है जब ग्राम सभाएं कोल ब्लॉक आवंटन की प्रक्रिया शुरू होने से पहले ही विरोध में उतरी हैं।
छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन के संयोजक आलोक शुक्ला ने बताया कि सरकार को कोल ब्लॉक के लिए जमीन अधिग्रहण करने से पहले ग्राम सभाओं की अनुमति लेना आवश्यक है। हसदेव अरण्य और मांड रायगढ़ क्षेत्र पांचवीं अनुसूची में आते हैं। इसलिए ग्रामसभा के फैसले का पालन करना सरकार के लिए अनिवार्य है। इन क्षेत्रों में पेसा कानून भी लागू है। ग्राम सभा में यह प्रस्ताव पास किया गया है कि कोल ब्लॉक के आवंटन से पर्यावरण प्रभावित होगा। कोल ब्लॉक के लिए आदिवासियों को विस्थापित किया जाएगा, जो खतरनाक है।
ग्राम सभा में यह भी प्रस्ताव पास किया गया कि किसी भी खनन परियोजना के आवंटन या नीलामी से पहले ग्रामसभा से पूर्ण जानकारी के साथ लिखित सहमति प्राप्त की जाए। पर्यावरण की सभी स्वीकृतियां मिलने के बाद ही खदानों का आवंटन किया जाए। जैव विविधता से संपन्न घने वन क्षेत्र, वन्य जीव आवास और पारिस्थितिक सूप से संवेदनशील इलाकों में किसी भी प्रकार की खनन अनुमति नहीं दी जाए।

इन ग्राम सभाओं ने किया प्रस्ताव पास

हंसदेव अरण्य क्षेत्र की मोरगा, मदनपुर, खिलती, धज्जाक, उचलेंगा, घाटवल्ला, साली, हरिहरपुर, फतेहपुर, सेंदू, सुष्कम, पटोगिया, पुटा, पतुरिया डांड, अरसिया और करहियापारा ग्रामसभा। इससे मोरगा-एक, मोरगा-दो, मोरगा--तीन, मोरगा-चार, मोरगा साउथ, मदनपुर नार्थ, मदनपुर साउथ, पुटा, पतुरियाडांड, परसा, परसा ईस्ट, केटे बासन, सेंदू साउथ और सेंदू नार्थ कोल ब्लॉक प्रभावित होंगे। इसके साथ ही मांड रायगढ़ की चार ग्राम सभाओं नरकारोह, करौंधा, दुलियामोड़ और चैनपुर ने विरोध में प्रस्ताव पास किया है। इससे बाइसी, कौंधई, डिपसाइट बाइसी व चैनपुर कोल ब्लॉक प्रभावित होंगे।


अंबेडकर में अंटेंडरों के लिए कैंटीन शुरू, डॉक्टरों के लिए भी जल्द

26 December 2014
रायपुर। अंबेडकर अस्पताल में मरीजों और उनके परिजनों के लिए एक कैंटीन खोला गया है। साथ ही एक स्पेशल कैंटीन यहां के डॉक्टर, स्टाफ, इंटर्न और पीजी छात्रों के लिए भी खोला जाएगा। इसकी टेंडर प्रक्रिया जल्द ही शुरू होगी। इसके बाद से अस्पताल में खाने-पीने की सहज सुविधा मिल सकेगी।

मरीजों के लिए परहेजी खाना भी

मरीजों के लिए मौजूदा कैंटीन में ही क्वालिटी सुधार के साथ परहेजी खाना उपलब्ध करवाया जाने लगा है। वहीं मरीजों के परिजन के लिए डीपी वार्ड के बाहर, गेट नंबर-२ पर कैंटीन खोली गई है। इसमें फिलहाल चाय, कॉफी और स्नैक्स मिल रहे हैं।

डॉक्टरों, छात्रों के लिए अलग व्यवस्था

अस्पताल के डॉक्टर, इंटर्न और पीजी छात्रों को लगातार ड्यूटी करने और खाने की समुचित व्यवस्था न होने से परेशानी होती थी। इसे देखते हुए अस्पताल प्रबंधन ने मरीजों को खाना देने वाले फिलिप कैटरर्स को ही स्टाफ के लिए अलहदा से कैंटीन बनाने की तैयारी है।

परिजनों के लिए अलग से कैंटीन व्यवस्था

मरीजों के परिजनों के लिए भी अस्पताल परिसर में एक और कैंटीन की व्यवस्था हो रही है, जहां नाश्ते का प्रबंध रहेगा। वहीं डाक्टरों, इंटर्न और पीजी छात्रों के लिए कैंटीन की विशेष व्यवस्था करने की तैयारी है।
डॉ. विनीत गोयल, प्रशासनिक अधिकारी अम्बेडकर अस्पताल


गंगा सफाई के लिए छत्तीसगढ़ लगाएगा 260 करोड़ के वाटर ट्रीटमेंट प्लांट

26 December 2014
रायपुर। छत्तीसगढ़ से निकलने वाली नदियों का पानी भी गंगा में मिलता है। आश्चर्य लगता है न सुनकर। ये सच है। सोन नदी गंगा में मिलती है और प्रदेश की कई नदियां सोन नदी में मिलती हैं। इस तरह यहां का पानी सोन नदी के जरिए गंगा नदी में मिलता है। गंगा की सफाई को लेकर पूरे देश में कवायद चल रही है। यही कवायद प्रदेश सरकार भी कर रही है, लेकिन अपने यहां की नदियों को साफ करके। सोच ये है कि हम अपनी नदियों का पानी स्वच्छ करेंगे, तो स्वच्छ पानी ही सोन नदी और गंगा नदी में जाएगा। इसके लिए तकरीबन 260 करोड़ रुपए खर्च होंगे। योजना बन चुकी है।
प्रदेश से निकलने वाली रिहंद नदी समेत चार नदियों का जल गंगा में जाता है। यही वजह है कि इस क्षेत्र को गंगा बेसिन के दायरे में रखा गया है। इन नदियों के किनारे लगे उद्योगों के चलते जल प्रदूषण काफी बढ़ गया है। अकेले रिहंद नदी के जल में कोल सिस्ट (कोयले की खदानों से निकलने वाली राख) की मात्रा औसत से काफी ज्यादा हो गई है। औसत प्रति लीटर 100 एमजी है, जबकि यह 160 एमजी हो गई है। राज्य सरकार ने गंगा बेसिन से जुड़ी नदियों की सफाई के अभियान में एनआईटी (नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टैक्नॉलाजी), रायपुर की मदद ली है।


गली-गली घूम रहा हूं तो कांग्रेसियों के पेट में क्यों दर्द: रमनसिंह

25 December 2014
रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने बगैर किसी का नाम लिए कांग्रेसियों पर पलटवार करते हुए कहा कि मैं अपने कार्यकर्ताओं को स्थानीय सत्ता पर काबिज कराने गली-गली घूम रहा हूं तो कांग्रेसियों के पेट में क्यों दर्द हो रहा है। हमने लक्ष्य निर्धारित किया है। मेरे अलावा मंत्रिमंडल के सदस्य, विधायक व सांसद सभी प्रचार में व्यस्त हैं।
सत्ता और संगठन के बीच बेहतर तालमेल के साथ हम प्रचार कर रहे हैं। हमने शत-प्रतिशत परिणाम देने का लक्ष्य निर्धारित किया है। उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव के बाद राज्य मंत्रिमंडल का विस्तार किया जाएगा। मंत्रियों के लिए तय की गई संख्या के अनुसार वर्तमान में तीन पद रिक्त हैं। विस्तार से पहले मंत्रियों के कामकाज की समीक्षा की जाएगी।
मंगलवार को यहां वे पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के नगरीय निकाय चुनाव प्रचार से अपने आपको दूर रखने के सवाल पर सीएम ने कहा कि श्री जोगी कांग्रेस के बड़े नेता हैं। जब बड़ी ताकत अपने आपको अलग रख लेती है तो इसका खामियाजा पार्टी को भुगतना पड़ता है। सीएम ने चुटकी लेते हुए कहा कि वैसे भी कांग्रेस में भारी अंतरविरोध है। कांग्रेस अपने आप से ही लड़ रही है।
नगरीय निकाय चुनाव प्रचार के सिलसिले में सीएम डॉ. सिंह सोमवार को एक दिनी प्रवास पर बिलासपुर पहुंचे थे। रात्रि विश्राम के बाद मंगलवार को गरियाबंद रवाना होने से पहले उन्होंने प्रेसवार्ता ली। उन्होंने कहा कि निकाय चुनाव के सिलसिले में तीन दिनों में प्रदेश के विभिन्न नगरीय निकायों में चुनाव प्रचार के सिलसिले में जाने का अवसर मिला है। सभी क्षेत्रों में भाजपा के पक्ष में सकारात्मक माहौल दिखाई दे रहा है। लोगों के उत्साह और रोड व सभाओं में उमड़ रही भीड़ से साफ हो गया है कि हम प्रदेश के सभी 10 नगर निगमों में जीत हासिल करेंगे। प्रदेश की अधिकांश नगर पालिका व नगर पंचायत भी हमारे कब्जे में होंगी।
कांग्रेस से हम कहीं ज्यादा आगे रहेंगे। एक सवाल के जवाब में सीएम ने कहा कि मौजूदा नगरीय निकाय चुनाव में मैं खुद व मेरे साथ मंत्रिमंडल के सहयोगी, विधायक व सांसद सभी चुनाव प्रचार में लगे हुए हैं। संगठन के साथ बेहतर तालमेल बनाकर काम कर रहे हैं। जाहिर है, इसका सकारात्मक परिणाम आएगा।
सोमवार को बिलासपुर नगर निगम सीमा के अंतर्गत आने वाले वार्डों में रोड शो का जिक्र करते हुए कहा कि रोड के दौरान शहरवासियों ने कड़कड़ाती ठंड में जिस तरह सड़कों पर उतरकर स्वागत सत्कार किया और भीड़ इकठ्ठी हुई, यह साफ संकेत कर रहा है। भीड़ के बीच खास बात ये रही कि लोगों में रोड शो के प्रति उत्साह और ललक दिखाई दे रही है। यह भाजपा के पक्ष में रुझान को दर्शाता है।
जनमत का रुझान हमारी ओर है। हम नगर निगम के अधिकांश वार्डों के अलावा महापौर का चुनाव भी रिकॉर्ड वोटों के अंतर से जीतने वाले हैं। एक सवाल के जवाब में सीएम डॉ. सिंह ने कहा कि राज्य सरकार के बीते एक दशक की कार्ययोजना का लाभ नगरीय निकाय के चुनाव में मिलते दिखाई दे रहा है।

हमने किया तीन विषयों पर फोकस
सीएम डॉ. सिंह ने कहा कि मौजूदा नगरीय निकाय चुनाव को हमने तीन विषयों पर फोकस किया है। भागीरथी नल-जल योजना के तहत गरीबों के घर में निःशुल्क नल कनेक्शन देना, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत मिशन को आगे बढ़ाते हुए स्वच्छ छत्तीसगढ़ स्वच्छ शहर की तर्ज पर गरीब बस्ती में 19 हजार की लागत से शौचालय का निर्माण करना और प्रदेश से लेकर शहरी तथा ग्रामीण इलाकों को साफ-सुथरा रखना।
इन्हीं मुद्दों को लेकर हम शहरी तथा ग्रामीण मतदाताओं के बीच पहुंच रहे हैं। आने वाले दिनों में इन मुद्दों को न केवल प्रभावी ढंग से क्रियान्वित किया जाएगा, वरन्‌ इसे गंभीरता के साथ अमलीजामा पहनाने का काम करेंगे।

मुझे गर्व है मैंने लाखों गरीबों के घर राशन पहुंचाया

एक सवाल के जवाब में सीएम डॉ. सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री खाद्यान्न योजना ऐसी योजना है, जिसे केंद्र सरकार ने सराहते हुए इसे रोल मॉडल के रूप में स्वीकार किया है। मुझे इस बात का गर्व है कि मैंने छत्तीसगढ़ के लाखों गरीबों के घर राशन पहुंचाने और दो वक्त चूल्हा जलाने का प्रबंध किया है। लोगों को खासकर युवाओं को श्रमवीर और कर्मवीर बनाने के लिए मुख्यमंत्री कौशल योजना के तहत कार्य प्रांरभ किया है।

तब भी लोगों को लगा था कि मैं तो गया

सीएम बदलने के सवाल पर डॉ. सिंह ने चुटकी लेते हुए कहा कि जब मैं पहली बार मुख्यमंत्री बना था, तब भी कुछ लोगों को लगा था कि मैं तो गया। ये कोई और नहीं, हमारे अपने शुभचिंतक ही हैं। फिलहाल मुझे तो दिल्ली से इस तरह के संकेत नहीं मिले हैं। मुझे तो लगता है, मैं पूरे कार्यकाल तक काबिज रहूंगा।


मुठभेड़ में तीन नक्सली ढेर!

25 December 2014
जगदलपुर/कांकेर। पुलिस और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में तीन नक्सलियों के मारे जाने की खबर आ रही है। मिली जानकारी के अनुसार बीएसफ और डीएफ की टीम ने संयुक्त रूप से कार्रवाई करते हुए नक्सलियों को घेर लिया था।
रावघाट के जंगलों में हुई आमने-सामने की फायरिंग में यह दावा किया जा रहा है कि तीन नक्सलियों की मौत हो गई है वहीं सुरक्षाबलों में से किसी के भी घायल होने की सूचना नहीं है।
सूत्रों के अनुसार यह भी कहा जा रहा है कि कुछ नक्सली अंधेरे का फायदा उठाकर मौके से फरार होने मे कामयाब हो गए।


चुनिए गांव की सरकार, 25, 28 जनवरी व 1 फरवरी को वोटिंग

25 December 2014
रायपुर। प्रदेश में नगरीय निकाय चुनावों का शोर मचा ही हुआ है, कि राज्य निर्वाचन आयोग ने पंचायत चुनावों की भी घोषणा कर दी है। पंचायत चुनाव तीन चरणों में 24, 28 जनवरी और एक फरवरी होगा। वोटों की गिनती प्रत्येक चरण की वोटिंग खत्म होने के तुरंत बाद की जाएगी। यानि कि वोटिंग खत्म होने के तुरंत बाद नतीजे भी आ जाएंगे। लेकिन इसकी अिधकृत घोषणा बाद में रिटर्निंग अॉफिसर के द्वारा की जाएगी। प्रदेश में पंचायतोंं का कार्यकाल 11 फरवरी को खत्म हो रहा है। इससे पहले चुनाव कराना जरूरी था।
राज्य निर्वाचन आयुक्त पीसी दलेई ने पंचायत चुनावों की घोषणा करते हुए बताया कि 13 ग्राम पंचायत और 184 वार्डों को छोड़कर प्रदेश के सभी जिला पंचायतों, जनपद पंचायतों और ग्राम पंचायतों में चुनाव होगा। पंचायत चुनाव की प्रक्रिया 31 दिसंबर 2014 से शुरू हो जाएगी, जो 5 फरवरी 2015 तक चलेगी।

चुनाव में नया और खास

पंचायत चुनाव में पहली बार फोटोयुक्त मतदाता सूची का इस्तेमाल होगा। यह चुनाव गैर दलीय आधार पर होगा। चुनाव पहले की तरह मतपत्र और मतपेटी के माध्यम होगा।

कितने पदों के लिए निर्वाचन

निर्वाचन आयोग के मुताबिक इस चुनाव के जरिए सभी 27 जिला पंचायतों के 402 जिला पंचायत सदस्यों, 148 जनपद पंचायतों के 2973 सदस्यों और 10955 ग्राम पंचायतों के सरपंचों और 155595 पंचों के लिए निर्वाचन होगा। इस दौरान 1.35 करोड़ मतदाता चुनाव में हिस्सा लेंगे। इनमें 67.97 लाख पुरुष और 67.09 लाख महिला मतदाता होंगी।


छत्तीसगढि़या रघुवर सीएम की दौड़ में!

24 December 2014
रायपुर। झारखंड में हुए विधानसभा चुनाव में पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा के हार जाने के बाद वहां भावी मुख्यमंत्री के रूप में जिन नामों की चर्चा चल रही है, उनमें छत्तीसगढ़ मूल के रघुवर दास का नाम भी शामिल है। साहू समाज के रघुवर दास मूलत: छत्तीसगढ़ के छुरिया [बोइरडीह] के रहने वाले हैं। यहां उनकी पुश्तैनी जमीन थी। उनके पिता सन् 1979 में पूरी तरह टाटानगर में शिफ्ट हो गए। उनके रिश्तेदार अभी भी यहां निवासरत हैं। रघुवर दास के पांच भाई-बहन हैं। इनकी बड़ी लड़की की शादी 2007 में दुर्ग के पद्मनाभपुर में हुई है। इनके दामाद जिंदल रायगढ़ में इंजीनियर हैं। इनकी एक भांजी रायपुर के सुंदरनगर में, जबकि दूसरी भांजी गुरर में हैं। उनकी भतीजी भिलाई सेक्टर-1 में रहती हैं।
बीएससी व एलएलबी करने के बाद रघुवर दास टाटा स्टील कंपनी में पदस्थ थे। इसके बाद 1970-71 में जेपी आंदोलन में कूद पडे़। उसके बाद पूरी तरह राजनीति में आ गए। झारखंड में जब बीजेपी की सरकार थी, तब इन्हें महत्वपूर्ण पद देते हुए उप मुख्यमंत्री बनाया गया।

रमन गए थे प्रचार करने

रघुवर दास ने नईदुनिया को बताया कि उनके चुनाव प्रचार में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह आए थे। मुख्यमंत्री बनने के बारे में पूछा गया तो वे टाल गए और कहा कि अभी बोर्ड की बैठक नहीं हुई है। बैठक होने के बाद ही कोई फैसला लिया जाएगा।

आते रहेंगे छत्तीसगढ़

रघुवर दास की बड़ी बहन बेदू बाई साहू ने कहा कि हमारा पूरा परिवार बोईरडीह में निवासरत है। हमारे परिवार के लोग हर कार्य में शामिल होने के लिए छत्तीसगढ़ जाते हैं। रघुवर दास भी साल में एक-दो बार छत्तीसगढ़ जाते हैं। उन्होंने कहा कि टाटानगर में भी छत्तीसगढि़यों ने रघुवर दास के लिए खूब प्रचार-प्रसार किया और बधाई देने के लिए सुबह से ही लोगों की भी़़ड इकट्ठा हो गई थी।

सभी लोग टाटानगर में

रघुवर दास की बहन प्रेमबती, माहरीन बाई, बेदू बाई, भाई-मूलचंद, जगदेव साहू तथा उनका परिवार सभी टाटा में रहते हैं।


एक लाख का इनामी माओवादी व जनताना का अध्यक्ष गिरफ्तार

24 December 2014
जगदलपुर/कोण्डागांव। पुलिस ने एक लाख रुपए का इनामी माओवादी एवं जनताना सरकार अध्यक्ष को किया गिरफ्तार किया है। एक लाख रुपए का इनामी माओवादी मर्दापाल एलओएस सदस्य है।
जिसकी पुलिस को छह वर्ष से तलाश थी। दोनों माओवादियों के खिलाफ स्कूल भवन की तोडफ़ोड़, पुलिस पार्टी पर फायरिंग की घटना में शामिल रहने के आरोप हैं। एसपीअभिषेक मीणा ने जानकारी देते हुए बताया कि मर्दापाल एवं डीआरजी कोण्डागांव की संयुक्त की टीम ने मुखबीर सूचना पर एक माओवादी को गिरफ्तार किया। पुलिस ने रंजीत (माओवादी द्वारा घोषित नाम) उर्फ ईतवारू कोर्राम (23) को गिरफ्तार किया।
रंजीत मर्दापाल एलओएस सदस्य हैं। वह 2008 में मर्दापाल एलओएस के कमाण्डर कोसा एवं उर्मिला उर्फ नीति के द्वारा माओवादियों के टेमरूगांव जनमिलिशिया के सदस्य के रूप में भर्ती किया था। जिसके बाद 2012 एवं 2013 में बोधघाट परियोजना के विरोध में माओवादियों द्वारा गठित माओवादी क्रांतिकारी जनमिलिशिया का कमाण्डर बनाया गया।
पूछताछ में उसने बताया कि 24 अप्रैल 2014 को ग्राम छोटे उसरी में पुलिस पार्टी पर फायरिंग की घटना में शामिल रहा। साथ ही स्कूल भवनों की तोडफ़ोड़, पुलिस पार्टी पर फायरिंग की घटना में भी शामिल रहा है।
सरकार अध्यक्ष मस्सु राम पोटाई (35) को धनोरा थाना पुलिस एवं डीआरजी की संयुक्त टीम द्वारा थाना आमाबेड़ा क्षेत्र के ग्राम मुगे जंगल से गिरफ्तार किया गया।
पूछताछ में इसने बताया कि 17 एवं 18 जनवरी 2008 की मध्य रात्रि हड़ेली के ग्राम पंचायत भवन एवं आंगनबाड़ी केन्द्र भवन में हुए तोडफ़ोड़ में 8 अप्रैल 2009 को हाटचपाई एवं तोयापाल के बीच जंगल में पुलिस पार्टी पर हुए फायरिंग की घटना में शामिल रहा है।


बागियों ने बिगाड़े समीकरण, बदली रणनीति, 1994 जैसे हालात बने

24 December 2014
बिलासपुर। न्यायधानी में नगर निगम के मेयर और 66 वार्डों के पार्षद पद के चुनाव में प्रमुख विपक्षी कांग्रेस में टिकट वितरण को लेकर उपजे असंतोष के बाद बड़े पैमाने पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने ताल ठोंक रखी है। मेयर समेत 21 वार्डों में कांग्रेस के बागी उम्मीदवार मैदान में नजर आ रहे हैं। इसके चलते कांग्रेस का चुनावी समीकरण गड़बड़ा गया है। इधर, भाजपा के बागी प्रत्याशी भी दम-खम से जुटे हैं।
ऐसे में दोनों दलों के आला नेताओं ने बाकी बचे चार दिनों के लिए प्रचार की रणनीति बदल दी है। भाजपा के मंत्री ने दौरा रद्द कर शहर में कैंप शुरू कर दिया है तो कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष को दूसरे दिन भी सभाएं लेने बिलासपुर आना पड़ा। इतिहास के पन्ने पलटें तो ऐसे हालात 1994 में बने थे, जब 22 निर्दलीय पार्षद चुनकर आए थे।
भाजपा ने भले ही मेयर पद के चुनाव में कांग्रेस की अंतर्कलह का फायदा मिलने की उम्मीद पाल रखी हो, लेकिन विशुद्ध रूप से चेहरे का चुनाव माने जाने वाले वार्ड पार्षद के पद पर वही जीतेगा, जिसकी जनता में गहरी पैठ हो। ऐसे में नई परिषद् में निर्दलियों के अधिक संख्या में जीतकर आने की संभावनाएं हैं। मौके की नजाकत भांपकर भाजपा के चुनाव संचालक व मंत्री अमर अग्रवाल ने प्रदेश का दौरा छोड़कर मंगलवार से अगले तीन दिनों के लिए शहर में पड़ाव डालने का फैसला किया है। इधर, पीसीसी प्रेसिडेंट भूपेश बघेल भी पीछे नहीं हैं। उन्होंने मंगलवार को लगातार दूसरे दिन शहर के चार क्षेत्रों में सभाएं की।
बहरहाल, निर्दलियों की जीत का ग्राफ चढ़ने की आशंका को लेकर कांग्रेस-भाजपा दोनों दलों के नेताओं की नींदें उड़ी हुई हैं। कांग्रेस की हालत नाजुक है तो भाजपा में भी मान मनौव्वल के बावजूद कई वार्डों में अब भी संघर्ष की नौबत है। ऐसे वार्डों की संख्या सात से अधिक है। कुल मिलाकर हालात अच्छे नहीं हैं। भाजपा जितना फिक्रमंद टाउन हाॅल में अपना मेयर भेजने के लिए है, उससे अधिक चिंता अपने बहुमत के आंकड़ों को लेकर है।

कांग्रेस से 21 वार्डों में बागी कैंडिडेट

अब नगर निगम में वार्डों की संख्या बढ़ाकर 66 कर दी गई है, तो निर्दलियों के आंकड़े भी बढ़ने की आशंका है। कांग्रेस की अंदरूनी कलह गहराने का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 21 वार्डों में उसके बागी कैंडिडेट चुनाव लड़ रहे हैं। इनमें दो पार्षद व दो पार्षदों की पत्नियां, एक के रिश्तेदार और एक पूर्व पार्षद सहित संगठन के पदाधिकारी शामिल हैं।

...मंत्री और बघेल इस वजह से हैं चिंतित

1. मेयर की उम्मीद, लेकिन चिंता बहुमत को लेकर

अमर अग्रवाल ने मंगलवार को समाज के वोटरों को साधने के प्रयास शुरू किए। रात में मंडल, जोन प्रभारियों की जोनवार बैठकें ली, फिर 11 बजे 17 सदस्यीय चुनाव समिति की बैठक बुलाई। प्रेक्षकों की मानें तो अमर को अपने ही शहर में चार दिन लगातार चुनावी मुहिम में जुटने से उनकी चिंता जानी जा सकती है। 2009 में निगम में मात खा चुकी भाजपा न केवल अपना मेयर बनाने के लिए फिक्रमंद है, बल्कि मंत्री की रणनीति अधिक लीड की लक्ष्मण रेखा खींचने की है। पार्षदों का बहुमत भी जुगाड़ना होगा, अन्यथा जो स्थिति मौजूदा मेयर वाणी राव की रही (सदन में कांग्रेस अल्पमत में), वही हालात भाजपा के साथ भी हो सकते हैं।

2. जोगी के जिले में जीत की बड़ी चुनौती ली

दूसरी ओर पीसीसी प्रेसिडेंट भूपेश बघेल के लिए कांग्रेस के नेतृत्व वाले निगम में बगावत के बाद भी दोबारा मेयर और पार्षद पद के अधिकृत प्रत्याशियों का सम्मानजनक आंकड़ा हासिल करना किसी चुनौती से कम नहीं है। एक तरह से वे अग्निपरीक्षा दे रहे हैं, क्योंकि टिकट वितरण को लेकर उपजे असंतोष को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने चुनाव प्रचार से किनारा कर लिया है। उनके समर्थक निर्दलीय कांग्रेस का "भट्ठा बिठाने' में कोई कसर बाकी नहीं रख रहे हैं। ऐसे में बघेल को दोहरा संकट झेलना पड़ रहा है। जोगी के जिले में अपनी संगठन शक्ति का परचम फहराना उनके राजनैतिक भविष्य के लिए बड़ा टारगेट है।


दुष्कर्म से पीड़ित नाबालिग बनी मां, बच्चे की मौत

23 December 2014
रायपुर। दुष्कर्म की शिकार हुई जशपुर क्षेत्र की सातवीं कक्षा में पढ़ने वाली 12 साल की एक बच्ची मां बन गई। मां और बच्चे को उपचार के लिए सोमवार को सिम्स में भर्ती कराया गया था, जहां कुछ देर बाद ही बच्चे की मौत हो गई। नाबालिग की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है।
मामला जशपुर क्षेत्र का है। सातवीं कक्षा में पढ़ने वाली लड़की के साथ गांव के ही एक युवक ने दुष्कर्म किया था, जिसके कारण वह गर्भवती हो गई। परिजनों को इसकी जानकारी देर से हुई। इसके कारण बच्ची का गर्भपात भी नहीं कराया जा सका। दो दिन पूर्व ही बच्ची ने घर पर ही बालक को जन्म दिया, जो कमजोर था। परिजन मां और बच्चे को लेकर उपचार के लिए स्थानीय अस्पताल पहुंचे। स्थिति को देखते हुए दोनों को सिम्स रेफर कर दिया गया, जहां पर सोमवार दोपहर नवजात की मौत हो गई।


राजमार्गों के किनारे से हटेंगी शराब दुकानें!

23 December 2014
रायपुर। प्रदेश में राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों के किनारे से शराब दुकानों को हटाने की भूमिका बनने लगी है। पिछले दिनों हुई राज्य सड़क सुरक्षा परिषद की बैठक में इसका प्रस्ताव तैयार हुआ है। इसे आबकारी, पुलिस और लोक निर्माण विभाग को भेजा गया है। सरकार ने इसकी अनुमति दी तो अगले साल फरवरी-मार्च में होने वाली इन दुकानों की नीलामी नहीं होगी।
पिछले दिनों परिवहन और लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत की अध्यक्षा में परिषद की बैठक में दुर्घटनाओं का मुद्दा उठा। कहा गया कि इन सड़कों के किनारे शराब दुकानों की भरमार हो गई है। दुकानों से लगे ढाबों में भी शराब परोशी जाने लगी है। वाहन चालक यहां आसानी से शराब पाते हैं। शराब पीकर गाड़ी चलाने की वजह से अधिकांश दुर्घटनाएं हो रही हैं।

नियमत: अवैध हैं दुकानें

सड़क कानूनों के मुताबिक राष्ट्रीय राजमार्गों और स्टेट हाइवे के दोनों ओर १०० मीटर के दायरे में शराब दुकान नहीं होनी चाहिए। पिछले कई सालों से प्रदेश में इस नियम का उल्लंघन जारी है। सरकार ने खुद सड़क किनारे की दुकानों को लाइसेंस बांटे हैं।


कांग्रेस तो सालभर मेंं मेरे हजार पुतले जला चुकी है, लेकिन मैं डरने से रहा: रमन

23 December 2014
बिलासपुर। मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह ने तिफरा हाईस्कूल मैदान में भाजपा की चुनावी सभा में तिफरा नगर पालिका काे स्मार्ट सिटी की तर्ज पर विकसित करने का वादा किया। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस हजार बार उनके पुतले जला चुकी है, लेेकिन इन सबसे वे डरने वाले नहीं हैं। छत्तीसगढ़ में विकास का रास्ता कोई रोक नहीं सकेगा।
भाजपा नेताओं ने सोमवार को जिलेभर में चुनावी सभाएं लेने हेलिकाॅप्टर से दौरा कर पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने की कवायद की। एक हेलिकाॅप्टर से मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह, स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल और भाजपा प्रदेशाध्यक्ष धरमलाल कौशिक सिरगिट्टी पहुंचे, यहां सभा ली। इसके बाद रोड शो कर तिफरा व बिलासपुर के चांटीडीह में सभा की। इधर, दूसरे हेलिकाॅप्टर से राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पांडे व पूर्व मंत्री चंद्रशेखर साहू ने रतनपुर, तखतपुर में सभाएं कीं।

रमन ने कहा, विकास की जिम्मेदारी लेता हूं

डाॅ. रमन सिंह ने सिरगिट्टी नगर पंचायत और तिफरा नगर पालिका के विकास की जिम्मेदारी लेने का वादा करते हुए कहा कि निकायों में अब तक करवाए गए कार्यों के एवज में वे समर्थन मांगने आए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कांग्रेस मुक्त सरकार की कल्पना को जनता ने साकार कर दिखाया है। कार्यकर्ताओं ने पिछले तीन चुनावों में उन्हें जिताने कड़ी मेहनत की और अब वे निकाय के चुनाव में उनके लिए प्रचार करने आए हैं। उन्होंने कहा, देश के नक्शे से कांग्रेस का सफाया हो रहा है।

नल कनेक्शन के साथ टॉयलेट बनाकर देंगे

धरमलाल कौशिक ने कहा कि तिफरा को छह सालों में ग्राम पंचायत से नगर पंचायत और अब नगर पालिका का दर्जा दिया गया है। यह मुख्यमंत्री और नगरीय प्रशासन मंत्री की देन है। गरीबों को भागीरथी नल जल योजना में मुफ्त नल कनेक्शन के अलावा प्रधानमंत्री स्वच्छता कार्यक्रम से शौचालयों की सुविधा दी जाएगी। कौशिक ने आश्वस्त किया कि चुनाव बाद भाजपा हर वादे को पूरा करेगी। सभा को सांसद लखनलाल साहू ने भी संबोधित किया।

कांग्रेस प्रत्याशी को उनके विधायक पसंद नहीं कर रहे

मंत्री अमर अग्रवाल ने चुटकी ली कि सिरगिट्टी नगर पंचायत से अध्यक्ष पद की कांग्रेस प्रत्याशी को खुद उनके विधायक पसंद नहीं कर रहे हैं। पता चला है कि उन्होंने एक अन्य व्यक्ति को चुनाव में खड़ा करवाया है। कांग्रेस के पूर्व नपं अध्यक्ष के ओबीसी सर्टिफिकेट का मामला उठाते हुए उन्होंने कहा कि उनका मामला कोर्ट में चल रहा है और इस बार उन्होंने पत्नी को यहां से दावेदार बनाया है।


कानन पेंडारी जू में अब वाई-फाई

22 December 2014
रायपुर। कानन पेंडारी जू में आने वाले पर्यटकों को अब वाई-फाई की सुविधा मिलेगी। रविवार से इंटरनेट का टॉवर लगाने का काम शुरू हो गया है। 25 दिसंबर को इसका ट्रॉयल होगा। यदि यह सफल हुआ तो नए साल की पहली तारीख से पर्यटक इसका लाभ उठा सकेंगे। इसके शुरू होते ही कानन देश का पहला जू बन जाएगा, जहां वाई-फाई की सुविधा होगी।
कानन पेंडारी जू को सर्वसुविधायुक्त बनाया जा रहा है। वाई-फाई की योजना भी इसी के अंतर्गत शामिल है। पर्यटकों की इस सुविधा को शुरू करने में प्रबंधन को अतिरिक्त भार वहन नहीं करना प़़ड रहा है। क्योंकि उन्होंने पहले से ही पीएएस [पब्लिक एड्रेस सिस्टम] योजना चालू करने का निर्णय लिया है। इसके तहत कोई भी पर्यटक इंटरनेट के माध्यम से घर बैठे जू की सैर व निगरानी दोनों कर सकते हैं। इसके तहत इंटरनेट केबल व टॉवर लगाने का काम इन दिनों जू में चल रहा है। 25 दिसंबर से पहले टॉवर लगाने का काम प्रारंभ हो जाएगा। इसी इंटरनेट के जरिए वाई-फाई की सुविधा शुरू करने का निर्णय लिया गया है।
रविवार को रायपुर से पहुंचे महामाया इंटरप्राइजेस के इंजीनियरों से वाई-फाई के संबंध में चर्चा की गई। इंजीनियरों ने भी इसके लिए किसी तरह की दिक्कत नहीं आने की बात कही है। उनकी सहमति मिलने के साथ ही जू प्रबंधन ने वाई-फाई सुविधा प्रारंभ करने के लिए कह दिया है। 25 दिसंबर को इसका भी टॉयल होगा। सफल ट्रॉयल के बाद एक जनवरी से पर्यटक जू में वाई-फाई के जरिए इंटरनेट की सुविधा ले सकेंगे।

सीमित होगा दायरा

वैसे तो इंटरनेट टॉवर से वन्यप्राणियों पर किसी तरह का विपरीत प्रभाव नहीं प़़डेगा, लेकिन प्रबंधन किसी तरह जोखिम नहीं लेना चाहता है। यही वजह है कि 40 फीट ऊंचे टॉवर को वन्यप्राणियों के केज से दूर मेन गेट के पास लगाने का निर्णय लिया गया है। इसी टॉवर के जरिए दो लिंक दिए जाएंगे। एक इंटरनेट और दूसरा वाई -फाई के लिए रहेगा। वाई-फाई का दायरा भी सीमित रखा जाएगा। इसके लिए फिलहाल जू कार्यालय से लेकर फौव्वारा चौक, राजीव उद्यान तक के क्षेत्र को चिंहित किया गया है।

शुल्क या नि:शुल्क चल रही चर्चा

वाई-फाई सुविधा के एवज में पर्यटकों से किसी तरह का शुल्क लिया जाएगा या इसे नि:शुल्क रखा जाएगा इसे लेकर अब तक अंतिम निर्णय नहीं लिया जा सका है। यह निर्णय विभाग के उच्च अफसरों को लेना है। फिलहाल उनके बीच चर्चाओं का दौर जारी है। संभवत 25 दिसंबर को इस मसले पर फैसला हो जाएगा।

रोज बदलेंगे पासवर्ड

जू प्रबंधन का मानना है कि इंजीनियरों से चर्चा कर यह फैसला लिया गया है कि पासवर्ड अपडेट की कमान जू प्रबंधन के पास ही रखा जाए। हालांकि यह निर्णय तब काम आएगा, जब वाई-फाई के एवज में शुल्क निर्धारित किया जाएगा। ऐसी स्थिति में प्रतिदिन पासवर्ड बदले जाएंगे। इस दौरान सुविधा का लाभ लेने के लिए पर्यटकों को कार्यालय से संपर्क कर शुल्क जमा करने के बाद पासवर्ड दिया जाएगा। यदि यह सुविधा नि:शुल्क हुई तो मेन गेट पर पासवर्ड की जानकारी चस्पा कर दी जाएगी।
टीआर जायसवाल, प्रभारी व रेंजर कानन पेंडारी जू ने कहा कि कानन पेंडारी जू पहुंचने वाले पर्यटकों को वाई-फाई सुविधा दी जा रही है। इसके लिए जू में टॉवर लगाया जा रहा है। वन्यप्राणियों की सुरक्षा के मद्देनजर इस सुविधा का दायरा सीमित रखा जाएगा। 25 दिसंबर को इसका टॉयल हो जाएगा।


झूठा परिवाद पेश करने पर महिला पर एक लाख का जुर्माना

22 December 2014
दुर्ग। उपभोक्ता फोरम में चिकित्सक के खिलाफ झूठा परिवाद प्रस्तुत करना महिला को महंगा पड़ गया। उपभोक्ता फोरम की अध्यक्ष मैत्रेयी माथुर ने अहिवारा निवासी सिया प्यारी पति स्व. बब्बू उर्फ सूरज साहू का आवेदन खारिज उस पर एक लाख रुपए का जुर्माना लगाया।
जुर्माने की राशि महिला को एक माह के अंदर अनावेदक चिकित्सक डॉ. दुष्यत खोसला को देना होगा। परिवाद पत्र के मुताबिक महिला ने आरोप लगाया था कि चिकित्सक डॉ. खोसला के द्वारा दी गई दवाई से उसके पति की स्थिति गंभीर हुई और उसकी मौत हो गई।महिला ने जानकारी दी थी कि तबियत बिगडऩे पर अपने पति को अहिवारा स्थित अस्पताल ले गई थी। जहां चिकित्सक ने गंभीर बीमारी की बात कहते हुए भर्ती किया।
दवा देने के बाद होमोग्राम बायोकेमेस्ट्री यूरिन आदि की जांच की गई। कुछ दिन बाद ही दवाई देने के बाद उसके पति बबू उर्फ सूरज की स्थिति बिगड़ गई। 23 जुलाई को उसकी मौत भी हो गई। महिला ने मौत पर चिकित्सक को दोषी ठहराते हुए पांच लाख रुपए क्षतिपूर्ती दिलाए जाने की मांग की थी।


प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश से नाराज जोगी ने किया चुनाव से किनारा

22 December 2014
रायपुर । नगरीय निकाय चुनाव में कांग्रेस का विवाद इस कदर बढ़ गया है कि पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने अपने आपको चुनाव से दूर कर लिया है। उन्होंने यह ऐलान कर दिया कि अब वे पार्टी के लिए चुनाव प्रचार नहीं करेंगे। इतना ही नहीं, इस बारे में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से बात करने के लिए वे दिल्ली चले गए हैं। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को अपने फैसले के बारे में अवगत करा दिया है। जोगी के इस कदम को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल से नाराजगी का परिणाम माना जा रहा है।
में भी पार्टी के नेताओं को अचरज में डाल दिया है। उन्होंने रविवार को कहा कि नगरीय निकाय चुनाव के प्रचार से मैं खुद को अलग कर रहा हूं। मेरी भूमिका चुनाव में टिकट बांटने तक ही थी। 13 दिसंबर के बाद मेरी भूमिका खत्म हो गई है। अब नए युवा प्रचार की कमान संभालेंगे। इसकी जानकारी मैंने राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी को दे दी है। मैंने भूपेश बघेल और टीएस सिंहदेव को 13 दिसंबर को हुई बैठक के दौरान ही बता दिया था कि अब नई पीढ़ी चुनाव प्रचार करेगी। मेरी अब कोई भूमिका नहीं है। उन्होंने कहा कि मैं नई दिल्ली जा रहा हूं। वहां राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलूंगा। लेकिन यह राजनीतिक मुलाकात नहीं होगी। उनका स्वास्थ्य खराब है, इसलिए उनसे मिलने जा रहा हूं। एक दिन बाद रायपुर लौटूंगा। उल्लेखनीय है कि कल ही प्रदेश कांग्रेस ने जोगी समर्थक विधायक आरके राय और सियाराम कौशिक को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। जोगी के इस कदम को उस नोटिस का जवाब ही माना जा रहा है।

विधायक राय से गुफ्तगू के बाद फैसला
जोगी के इस बयान के पहले गुंडरदेही के विधायक आरके राय उनसे मिलने आए थे। राय 12 बजे जोगी निवास पहुंचे। वहां एक घंटे तक उनके बीच बंद कमरे में चर्चा हुई। चर्चा के बाद राय चले गए और जोगी ने अपने फैसले का ऐलान किया। आमतौर पर जोगी अपने रणनीतिक कदमों की जानकारी सार्वजनिक तौर पर नहीं देते हैं लेकिन वे पूरे राज्य में संदेश देना चाहते थे कि वे नाराज हैं, इसलिए अपने फैसले को सार्वजनिक किया।
गालीगलौच और फैसलों को बदलने से नाराज हैं जोगी

अजीत जोगी की नाराजगी की प्रमुख वजह कांग्रेस भवन में भूपेश समर्थकों द्वारा जोगी के खिलाफ की गई गालीगलौच है। इसी गालीगलौच के बाद ही प्रदेश कांग्रेस में हंगामा हुआ था। भूपेश पर कुर्सियां भी फेंकी गई थीं। इसी प्रकार प्रदेश चुनाव समिति में लिए गए फैसलों पर अमल करने के बजाय प्रदेश कांग्रेस ने किसी को सूचना दिए बिना ही 19 स्थानों के प्रत्याशी बदल दिए। इसके अलावा जोगी के खास समर्थक माने जाने वाले विधायक आरके राय और सियाराम कौशिक को पीसीसी ने कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया। जोगी खेमे का मानना है कि प्रदेश अध्यक्ष बघेल जानबूझकर जोगी के लोगों को निशाना बना रहे हैं।

जोगी का पलायन ठीक नहीं

जब आम कार्यकर्ता दिन-रात प्रचार में लगे हैं तब अजीत जोगी का प्रचार से पलायन उचित नहीं है। नगरीय निकाय चुनाव कार्यकर्ताओं का चुनाव है। -भूपेश बघेल, पीसीसी अध्यक्ष

जोगी क्यों करें प्रचार, वे बड़े नेता

पार्टी के बड़े नेता सोनिया गांधी, राहुल गांधी, मोतीलाल वोरा छोटे चुनाव में प्रचार के लिए नहीं जाते। ऐसे में जोगी का प्रचार नहीं करना कोई विशेष बात नहीं। वे पार्टी के बड़े नेता हैं। -टीएस सिंहदेव, नेता प्रतिपक्ष

मेरी भूमिका खत्म

मेरी भूमिका टिकट वितरण तक थी। 13 दिसंबर के बाद मेरी भूमिका खत्म हो गई। मैं सोनिया गांधी से मिलने दिल्ली जा रहा हूं। ये मेरी व्यक्तिगत मुलाकात है।
-अजीत जोगी, पूर्व मुख्यमंत्री

राय का भूपेश पर हमला

उधर, विधायक आरके राय ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल पर हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि भूपेश बघेल चाहते हैं कि पार्टी फोरम में कोई भी अपनी बात न रखे।


वाट्सएप पर आला अफसर की टिप्पणी से खलबली

20 December 2014
रायपुर। राज्य सरकार के एक आला अफसर ने राज्य के उन कलेक्टरों के खिलाफ, जो पदोन्नत होकर आईएएस बने हैं, बेहद आपत्तिजनक टिप्पणी की है। यह टिप्पणी उन्होंने वाट्सएप पर कलेक्टरों के एक ग्रुप, जिसका नाम डीएम ग्रुप है, पर की है। इस टिप्पणी के तुरंत बाद अफसर ने तो माफी मांग ली, लेकिन उनकी इस टिप्पणी से नौकरशाही में खलबली मची हुई है, बल्कि जिस तबके के खिलाफ उन्होंने टिप्पणी की है, उसमें खासी नाराजगी है।
यह पूरा मामला जनधन योजना की प्रगति को लेकर है। नईदुनिया को एक अधिकारी ने यह मैसेज भी दिखाया है। इस मैसेज में इस तथ्य का जिक्र है कि जनधन योजना के तहत खाते खुलवाने में राज्य के टापटेन कलेक्टरों में शुरू के छह वे कलेक्टर हैं, जो पद्दोन्नाति से आईएएस और फिर कलेक्टर बने हैं। बाकी के वे चार अफसर हैं, जो सीधे यूपीएससी से चयनित होकर आईएएस बने हैं।
इस अफसर के मुताबिक राज्य सरकार के इस आला अफसर ने इस डीएम ग्रुप में लिखा कि यह तो चमत्कार हो गया। घोड़ों से तो कोई भी काम ले सकता है, लेकिन ....... आगे हो गए ये बड़ी बात है! फिर इस अफसर ने बाकायदा पदोन्नात अफसरों के नाम गिनाए और लिखा कि चमत्कार ही है कि वे आगे हो गए और सीधे चयनित अफसर पीछे रह गए।
बताया गया है कि यह टिप्पणी उनसे गलती से इस ग्रुप में पोस्ट हो गई थी और जैसे ही उन्हें इस बात का अहसास हुआ, उन्होंने तुरंत अपनी माफी भी मांग ली। माफी मांगते हुए उन्होंने लिखा है कि गलती इंसान से हो जाती है.. मुझे क्षमा करिए... और यह भी पूछा कि क्या आप लोगों ने मुझे माफ कर दिया?
इस मामले की नौकरशाही मे जमकर चर्चा है। कई अफसरों ने अलग-अलग न केवल इसकी पुष्टि की, बल्कि राज्य सरकार के एक अन्य वरिष्ठ अफसर से जब इस मामले में टिप्पणी चाही गई तो उनका हल्के-फुल्के अंदाज में जवाब था,... घोड़ों के बीच शेर का कोई काम नहीं है ! लेकिन नौकरशाही का एक का एक बड़ा हिस्सा राज्य के एक वरिष्ठ नौकरशाह की आपत्तिजनक टिप्पणी से न केवल खुद को आहत महसूस कर रहा है, बल्कि एक अफसर ने तो यहां तक कहा कि नौकरशाही में पदोन्नात आईएएस को किस तरह दोयम दर्जे का माना जाता है, यह मामला उसका भी एक उदाहरण है।


सियासी पारा गरमाने आएंगे आज बघेल

20 December 2014
धमतरी। धमतरी नगर निगम चुनाव पर भाजपा-कांग्रेस के दिग्गजों की नजर लगी हुई है। भाजपा की कोशिश है कि निगम में भी पार्टी की प्रतिष्ठा बरकरार रहे। दूसरी ओर कांग्रेस ने जनभावना के अनुरूप प्रत्याशी उतारकर किसी भी हाल में अपना कब्जा करना चाहती है।
प्रदेश में प्रथम चरण में 29 दिसंबर को धमतरी नगर निगम का चुनाव होगा। पहली बार सामान्य वर्ग के लिए आरक्षित महिला महापौर पद के लिए भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर है। चुनाव में भाजपा ने अर्चना चौबे को और कांग्रेस ने डॉ सरिता दोशी को अपना प्रत्याशी बनाया है।
दोनों ही प्रत्याशी संसाधनों के मामले में किसी से कम नहीं हैं। इस बार कांग्रेस की कोशिश है कि किसी भी तरह निगम में कब्जा किया जाए। इसके लिए रणनीति बनाने के लिए 20 दिसंबर को प्रदेश कांग्रेसाध्यक्ष भूपेश बघेल धमतरी आ रहे हैं। कांग्रेस सूत्रों के अनुसार दोपहर करीब 2.30 बजे विधायक निवास में पहुंचेंगे।
यहां से मोटरसायकल रैली के साथ शहर भ्रमण करते हुए कांग्रेस भवन आएंगे। यहां कार्यकर्ताओं की बैठक लेकर उन्हें रिचार्ज करेंगे। इसके बाद कांग्रेस भवन से ही उनके नेतृत्व में रैली निकाली जाएगी, जो शहर के प्रमुख मार्गों से होते हुए महावर धर्मशाला के पास स्थित केन्द्रीय कार्यालय में आकर समाप्त होगी।
23 दिसंबर को मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह की धमतरी में सभा होगी। भाजपा शहर मंडल के महामंत्री कविन्द्र जैन ने बताया कि सम्मेलन के लिए प्रशासन से अनुमति भी ले ली गई है। बहरहाल राजनीतिक पंडितों का कहना है कि भाजपा-कांग्रेस के दिग्गज नेताओं की आमद के बाद यहां का सियासी पारा और चढ़ेगा।


चुनाव में सबसे बड़ा मुद्दा शहर में फैली गंदगी

20 December 2014
रायपुर। नगर निगम चुनाव में सबसे बड़ा मुद्दा शहर में फैली गंदगी ही बनेगा, यह अंदाजा उन नेताओं ने छह माह पहले ही लगा लिया था जो चुनाव लड़ने के इच्छुक थे। यही वजह है कि कई मौजूदा उम्मीदवार ऐसे हैं जो अपने वार्ड में पिछले कई महीने से खुद के खर्च पर सफाई करवा रहे हैं। भास्कर टीम ने भनपुरी से कोटा तक तथा आसपास के आधा दर्जन वार्डों का जायजा लिया। जिन वार्डों में सफाई नजर आई, वहां लोगों ने बताया कि उम्मीदवार के निजी कर्मचारी पिछले कुछ माह से सफाई में लगे हैं।
भनपुरी के बंजारी माता वार्ड की अंदर की सड़कों और नालियों की सफाई नगर निगम के 18 कर्मचारी कर रहे हैं। लेकिन वार्ड के लोगों ने बताया कि यहां के एक उम्मीदवार के 30 कर्मचारी काफी दिन से घूम-घूमकर सफाई कर रहे हैं। इस मामले में प्रतिद्वंद्वी भी पीछे नहीं हैं। उन्होंने भी सफाई के लिए कर्मचारी रखे हैं। वार्ड के मोहन साहू और कमला बाई ने बताया कि दो महीने पहले नालियों, सड़क और नुक्कड़ पर बेहद गंदगी रहती थी। मगर अब हालात सुधर गए हैं। यहीं से लगा वीर शिवाजी वार्ड महिलाओं के लिए आरक्षित है। वहां खमतराई का बाजार भी है। बाजार और वार्ड में 15 सफाई कर्मचारी लगे हैं। बाजार में फल ठेला लगाने वाली जमुना बाई ने बताया कि सुबह से ही बाजार में सफाई शुरु हो जाती है। कन्हैयालाल बजारी वार्ड में सामान्य वर्ग की दो महिलाओं में मुकाबला है। यहां भी उम्मीदवार निजी कर्मचारियों से सफाई करवा रहे हैं।


भाजपा का संकल्प पत्र जारी, हर घर बिजली-सफाई का वादा

19 December 2014
रायपुर। नगरीय निकाय चुनाव के लिए भाजपा ने गुरुवार को अपना संकल्प पत्र जारी कर दिया। एकात्म परिसर में मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने इस संकल्प पत्र को जारी किया। इस संकल्प पत्र में भारतीय जनता पार्टी ने हर घर में बिजली, सफाई, रोजगार सहित शहर के विकास से जुड़े मुद्दों को जगह दी है। इस मौके पर नगरीय निकाय मंत्री अमर अग्रवाल, कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, पीडब्ल्यूडी मंत्री राजेश मूणत, भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पांडेय, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष धरम लाल कौशिक सहित विधायक श्रीचंद सुंदरानी, शिवरतन शर्मा और भाजपा के अन्य पदाधिकारी-कार्यकर्ता मौजूद थे।


शेर की खाल के साथ तीन गिरफ्तार

19 December 2014
जगदलपुर/कांकेर। शेर खाल की तस्करी करने वाले तीन युवकों को कांकेर पुलिस ने गुरूवार की सुबह नए बस स्टैण्ड के पास खाल सहित पकड़ लिया । जप्त खाल की कीमत लगभग डेढ़ लाख रुपए आंकी जा रही है। खाल 6 फिट 3 इंच लंबा है। तस्कर इसे अपने साथियों को देने शहर पहुंचे थे। पुलिस को इसकी सूचना मिलने पर मौके पर पहुंच पकडऩे में सफलता प्राप्त की।
पकड़े गए आरोपियों में बारसूर थाना क्षेत्र के महेश लाल नाग 28 वर्ष पिता लखन लाल, परस नाग 32 वर्ष पिता फु लधन, गीदम थाना अंतर्गत ग्राम गोधपाल निवासी पेड़ो राम लेकामी 35 वर्ष पिता धन्नु हैं। तीनों बाइक क्रमांक सीजी 19 ई 1380 के डिक्की में खाल को लेकर कांकेर आए थे। कोतवाली प्रभारी दीनबंधु उईके ने बताया कि खाल करीब 6 माह पुराना है। खाल शेर की है। जिसका बाजार में करीब डेढ़ लाख रुपए की कीमत आंकी जा रही है। तीनो आरोपियों को धारा 34, 44, 48 क 49ख 51 वन्य प्राणी संरक्षण अधिनियम के तहत न्यायालय में पेश किया गया है। जहां से उन्हे रिमाण्ड पर जेल भेज दिया गया है।


जोगी को सरकार गिराने में 15-20 साल और लगेंगे: रमन

19 December 2014
भिलाई | मुख्यमंत्री डाक्टर रमन सिंह ने गुरुवार को भिलाई में कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री जोगी तो 11 साल पहले जब पहली बार मुख्यमंत्री बना था तब से सरकार गिराने की बात करते रहे हैं। अभी उनको 15-20 साल और लगेंगे। वे जोगी के साजा में दिए बयान का जवाब दे रहे थे।
जोगी ने साजा में आयोजित सभा में कहा था कि वे जब चाहे, भाजपा की सरकार गिरा सकते हैं। एक बार भाजपा के 12 विधायकों को कांग्रेस में मिला लिया था, अभी ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। केवल चार या पांच लोगों की जरूरत पड़ेगी। सीएम सेक्टर-6 में गुरु घांसीदास जयंती समारोह में आए थे।

सीएम ने और क्या कहा

निकाय चुनाव पर : हम लोकसभा, विधानसभा चुनाव तीसरी बार जीत चुके हैं। नगरीय निकाय चुनाव और पंचायत चुनाव भी भारी बहुमत से जीतेंगे।
मंत्रियों के रिपोर्ट कार्ड पर : अभी काफी व्यस्तता है। चुनाव के बाद ही मंत्रियों के रिपोर्ट कार्ड पेश किए जाएंगे।
चुनाव में शराब और पैसा बांटने की बात पर : अगर कोई ये समझता है कि चुनाव में पैसे और शराब से लोगों को खरीदा जा सकता है तो ये गलत बात है। चुनाव में आपका काम ही आपका साथ देता है।


भाजपा का संकल्प पत्र जारी, हर घर बिजली-सफाई का वादा

19 December 2014
रायपुर। नगरीय निकाय चुनाव के लिए भाजपा ने गुरुवार को अपना संकल्प पत्र जारी कर दिया। एकात्म परिसर में मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने इस संकल्प पत्र को जारी किया। इस संकल्प पत्र में भारतीय जनता पार्टी ने हर घर में बिजली, सफाई, रोजगार सहित शहर के विकास से जुड़े मुद्दों को जगह दी है। इस मौके पर नगरीय निकाय मंत्री अमर अग्रवाल, कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, पीडब्ल्यूडी मंत्री राजेश मूणत, भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पांडेय, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष धरम लाल कौशिक सहित विधायक श्रीचंद सुंदरानी, शिवरतन शर्मा और भाजपा के अन्य पदाधिकारी-कार्यकर्ता मौजूद थे।


शेर की खाल के साथ तीन गिरफ्तार

19 December 2014
जगदलपुर/कांकेर। शेर खाल की तस्करी करने वाले तीन युवकों को कांकेर पुलिस ने गुरूवार की सुबह नए बस स्टैण्ड के पास खाल सहित पकड़ लिया । जप्त खाल की कीमत लगभग डेढ़ लाख रुपए आंकी जा रही है। खाल 6 फिट 3 इंच लंबा है। तस्कर इसे अपने साथियों को देने शहर पहुंचे थे। पुलिस को इसकी सूचना मिलने पर मौके पर पहुंच पकडऩे में सफलता प्राप्त की।
पकड़े गए आरोपियों में बारसूर थाना क्षेत्र के महेश लाल नाग 28 वर्ष पिता लखन लाल, परस नाग 32 वर्ष पिता फु लधन, गीदम थाना अंतर्गत ग्राम गोधपाल निवासी पेड़ो राम लेकामी 35 वर्ष पिता धन्नु हैं। तीनों बाइक क्रमांक सीजी 19 ई 1380 के डिक्की में खाल को लेकर कांकेर आए थे। कोतवाली प्रभारी दीनबंधु उईके ने बताया कि खाल करीब 6 माह पुराना है। खाल शेर की है। जिसका बाजार में करीब डेढ़ लाख रुपए की कीमत आंकी जा रही है। तीनो आरोपियों को धारा 34, 44, 48 क 49ख 51 वन्य प्राणी संरक्षण अधिनियम के तहत न्यायालय में पेश किया गया है। जहां से उन्हे रिमाण्ड पर जेल भेज दिया गया है।


जोगी को सरकार गिराने में 15-20 साल और लगेंगे: रमन

19 December 2014
भिलाई | मुख्यमंत्री डाक्टर रमन सिंह ने गुरुवार को भिलाई में कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री जोगी तो 11 साल पहले जब पहली बार मुख्यमंत्री बना था तब से सरकार गिराने की बात करते रहे हैं। अभी उनको 15-20 साल और लगेंगे। वे जोगी के साजा में दिए बयान का जवाब दे रहे थे।
जोगी ने साजा में आयोजित सभा में कहा था कि वे जब चाहे, भाजपा की सरकार गिरा सकते हैं। एक बार भाजपा के 12 विधायकों को कांग्रेस में मिला लिया था, अभी ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। केवल चार या पांच लोगों की जरूरत पड़ेगी। सीएम सेक्टर-6 में गुरु घांसीदास जयंती समारोह में आए थे।

सीएम ने और क्या कहा

निकाय चुनाव पर : हम लोकसभा, विधानसभा चुनाव तीसरी बार जीत चुके हैं। नगरीय निकाय चुनाव और पंचायत चुनाव भी भारी बहुमत से जीतेंगे।
मंत्रियों के रिपोर्ट कार्ड पर : अभी काफी व्यस्तता है। चुनाव के बाद ही मंत्रियों के रिपोर्ट कार्ड पेश किए जाएंगे।
चुनाव में शराब और पैसा बांटने की बात पर : अगर कोई ये समझता है कि चुनाव में पैसे और शराब से लोगों को खरीदा जा सकता है तो ये गलत बात है। चुनाव में आपका काम ही आपका साथ देता है।


पत्रकार उमेश राजपूत हत्या की होगी सीबीआई जांच

18 December 2014
रायपुर। हाईकोर्ट ने पत्रकार उमेश राजपूत की हत्या के मामले की सीबीआई जांच का आदेश दिया है। घटना के चार साल बाद भी आरोपियों की गिरफ्तार नहीं हो पाई है।
गरीयाबंद जिला के ग्राम छूरा निवासी पत्रकार उमेश राजपूत 23 जनवरी 2011 की शाम अपने घर पर थे। उसी समय बाइक सवार दो युवकों ने आवाज देकर उन्हें बाहर बुलाया। बाहर निकलते ही युवक उन पर गोली मार कर फरार हो गए।
सूचना पर पुलिस ने हत्या का अपराध दर्ज कर मामले को विवेचना में लिया। हत्या के दो दिन पहले पत्रकार उमेश राजपूत का अस्पताल में अव्यवस्था को लेकर नेत्र सहायक से विवाद हुआ था। उन्होंने मामले की थाना में शिकायत की थी। इसके अलावा क्षेत्र के कुछ खनिज माफिया ने भी उन्हें धमकी थी। हत्यारों के गिरफ्तार नहीं होने पर उसके भाई परमेश्वर राजपूत ने अधिवक्ता सुधा भारद्वाज के माध्यम से हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी। हाईकोर्ट ने मामले में विवेचना अधिकारी को नोटिस जारी कर जवाब मांगा। प्रकरण में सीजेएम कोर्ट से संदेहियों के ब्रेनमैपिंग का आदेश दिया गया था। हाईकोर्ट ने ब्रेन मैपिंग रिपोर्ट प्रस्तुत करने का आदेश दिया। कोर्ट के कई बार नोटिस के बावजूद पुलिस प्रकरण में संतोषजनक जवाब पेश नहीं कर पाई।
याचिकाकर्ता के अधिवक्ता ने मामले में प्रभावशाली लोगों का हाथ होने का संदेह व्यक्त करते हुए पुलिस कीबजाय किसी स्वतंत्र जांच एजेंसी से जांच कराने की मांग की थी। हाईकोर्ट में डेढ़ वर्ष तक मामले में सुनवाई हुई। बुधवार को जस्टिस एमएम श्रीवास्तव की कोर्ट में सुनवाई हुई। कोर्ट ने हत्यारों को पकड़ने में पुलिस के असक्षम होने पर मामले की सीबीआई से जांच कराने का आदेश दिया है।


पांच किलो का आईईडी बरामद

18 December 2014
जगदलपुर/कोण्डागांव। पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा के निर्देशन में माओवादी गतिविधियों पर अंकुश लगाने एवं सुदृढ़ सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए थाना बड़ेडोंगर जिला बल एवं एसटीएफ की टीम द्वारा 16 दिसंबर को ग्राम खंडसारा, आमगांव, बडगई की ओर सर्चिंग एवं एरिया डॉमिनेशन के लिए रवाना हुई थी।
वापसी के दौरान मुखबिर द्वारा सूचना प्राप्त हुई कि मओवादी प्रतिबंधित संगठन कम्युनिष्ठ पार्टी ऑफ इंण्डिया (माओवादी) के सक्रिय माओवादियों द्वारा सुरक्षा बलों को जान से मारने के लिए एक टिफिन बम रखा था। सूचना पर सुरक्षा बलों द्वारा ग्राम कुलानार से बडग़ई जाने के कच्ची मार्ग से लगभग पांच किलो ग्राम का टिफिन बम एवं दो मीटर बिजली का वायर बरामद कर निष्क्रिय किया।


आखिरी दिन भी कांग्रेस पार्टी कुछ जगह प्रत्याशियों की घोषणा नहीं कर सकी

18 December 2014
रतनपुर। नगर पालिका परिषद चुनाव के लिए नामांकन दाखिले की प्रक्रिया बुधवार को समाप्त हुई। अध्यक्ष पद के लिए कांग्रेस से आशा सूर्यवंशी ने व भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी से अमोला बाई ने पर्चा दाखिल किया। अध्यक्ष पद के लिए सिर्फ एक निर्दलीय प्रत्याशी देवकुमारी भारद्वाज ने अपना नामांकन दाखिल किया है।
नामांकन अवधि तक बी फाॅर्म नहीं आने से कांग्रेस के सभी दावेदारों ने अपना पर्चा भरा है। इनमें वार्ड 2 से शिव कुमार दुबे व दामोदर सिंह, 6 से डाॅ. राजू श्रीवास व रामगोपाल कहरा, 12 से पवन धीवर व फैज मोहम्मद और वार्ड 13 से मोहम्मद सुलेमान व वादिर खान शामिल हैं। बचे 11 वार्ड में से एक ने ही पर्चा भरा है। बुधवार को दोपहर 12 बजे कांग्रेसी महामाया चौक पर एकत्रित हुए और बी फार्म नहीं आने पर गाजे-बाजे के साथ रैली निकालकर नामांकन दाखिल करने पीठासीन अधिकारी कार्यालय की ओर चल पड़े। कांग्रेस ने अध्यक्ष पद के प्रत्याशी तो घोषित कर दिया है, पर उसके नाम पर बी फाॅर्म जारी नहीं किया गया है।
नामांकन के बाद कांग्रेस प्रत्याशी आशा सूर्यवंशी ने कहा नगर को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराना उनकी प्राथमिकता होगी।अध्यक्ष को लेकर भी संशय: कांग्रेस के घोषित अधिकृत प्रत्याशी आशा सूर्यवंशी के नाम बी फाॅर्म नहीं आने से तमाम तरह के कयास लगते रहे। कांग्रेस से दावेदार रही देवकुमारी भारद्वाज के नाम पर भी बी फाॅर्म आने की चर्चा रही। हालांकि नगर कांग्रेस अध्यक्ष आनंद जायसवाल ने अफवाहों को नकारा। शहर के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि कांग्रेसी प्रत्याशियों को बगैर बी फार्म के नामांकन दाखिल करना पड़ा। इसे कांग्रेस की अंदरूनी गुटबाजी से भी जोड़कर देखा जा रहा है। इसका असर चुनाव में भी देखने को मिल सकता है।
62 नामांकन हुए दाखिल: रतनपुर नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष के साथ 15 पार्षदों के लिए चुनाव होना है। इसके लिए विभिन्न वार्डों से 62 नामांकन दाखिल हुए। इनमें से चार पर्चे अध्यक्ष पद के लिए हैं।


नसबंदी कांड पर दूसरे दिन भी हंगामा, 30 कांग्रेस विधायक निलंबित

17 December 2014
रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा में शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन भी मंगलवार को बिलासपुर जिले के नसबंदी शिविरों में महिलाओं की मौत को लेकर जमकर हंगामा हुआ। हंगामे के चलते सदन की कार्रवाई तीन बार स्थगित करनी प़़डी। प्रश्नकाल भी नहीं चला। मुख्य विपक्षी कांग्रेस के विधायकों ने सदन के भीतर पोस्टर दिखाए और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। कांग्रेस के तीस विधायक गर्भगृह में चले गए और नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव सहित सभी कांग्रेस विधायक स्वमेव निलंबित हो गए। कांग्रेस विधायकों ने सदन के बाहर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने भी धरना-प्रदर्शन किया। कांग्रेस के विधायक मंगलवार को काले कपडे़ पहनकर विधानसभा में पहुंचे थे। हंगामे के बीच मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने चालू वित्तीय वर्ष के लिए द्वितीय अनुपूरक बजट पेश किया।
सदन की कार्यवाही शुरू होते ही विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल ने प्रश्न पूछने के लिए निर्दलीय विधायक डॉ. विमल चोपड़ा का नाम पुकारा। इस बीच नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने नसबंदी कांड का मामला उठाया। इस पर संसदीय कार्यमंत्री अजय चंद्राकर ने आपत्ति करते हुए कहा कि प्रश्नकाल में भाषण की परंपरा नहीं है। कुछ कहना है तो वे प्रश्नकाल के बाद अपनी बात रख सकते हैं। इसके बाद कांग्रेस के विधायकों ने नारेबाजी शुरू कर दी। सत्तापक्ष के सदस्यों ने भी जवाब में नारेबाजी की। शोरशराबे के बीच कांग्रेस विधायकों ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल के इस्तीफे की मांग की। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि इस पर मैंने व्यवस्था दी थी कि इस्तीफा सदन का विषय नहीं है। इस बीच कांग्रेस विधायक सदन में पोस्टरनुमा कागज दिखाने लगे, जिसमें 'मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री इस्तीफा दो' के नारे लिखे हुए थे। इस पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि पोस्टर प्रदर्शित करना ठीक नहीं है। नारेबाजी शांत नहीं होने पर विधानसभा अध्यक्ष ने सदन की कार्रवाई दस मिनट के लिए स्थगित कर दी।
सदन की कार्यवाही प्रारंभ होने पर कांग्रेस विधायक सत्यनारायण शर्मा ने कहा कि महावर फार्मा पर अब तक कार्रवाई नहीं हुई है। इस पर संसदीय कार्यमंत्री अजय चंद्राकर ने कहा कि कल स्थगन प्रस्ताव पर चर्चा होनी थी, लेकिन विपक्ष ने हिस्सा नहीं लिया। इस दौरान विपक्षी विधायक नारेबाजी करते हुए गर्भगृह में चले गए और स्वमेव निलंबित हो गए। विधानसभा अध्यक्ष ने सभी निलंबित सदस्यों को सदन से बाहर जाने के लिए कहा, लेकिन कांग्रेस के विधायक गर्भगृह में ही बैठे रहे और नारेबाजी जारी रखी। शोरशराबे के बीच विधानसभा अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी।
कार्रवाई स्थगत होने के बाद भी विपक्षी सदस्य गर्भगृह में ही बैठे रहे। कार्यवाही शुरू होने पर विपक्षी विधायकों ने फिर से नारेबाजी करते हुए मुख्यमंत्री से इस्तीफे की मांग की। सत्तापक्ष के सदस्यों ने भी मुख्यमंत्री जिंदाबाद के नारे लगाए। संसदीय कार्यमंत्री ने कहा कि दो दिन से कार्रवाई बाधित है।
राज्य शासन हर तरह की चर्चा के लिए तैयार है। इसके बाद भी कांग्रेस विधायक नारेबाजी करते रहे और सदन की कार्यवाही तीसरी बार दस मिनट के लिए स्थगित करनी पड़ी। इसके बाद कांग्रेसी विधायक सदन से बाहर चले गए। सदन की कार्रवाई पुन: शुरू होने पर विधानसभा अध्यक्ष ने कांग्रेस विधायकों का निलंबन समाप्त करते हुए उनसे कार्यवाही में हिस्सा लेने का आग्रह किया, लेकिन कांग्रेस विधायक दोबारा सदन में नहीं आए। विपक्ष की गैर-मौजूदगी में राज्य सरकार की ओर पेश किए गए सभी संशोधन विधेयक व संकल्प को पारित कर दिया गया।

विपक्ष ने किया नियमों का उल्लंघन : विधानसभा अध्यक्ष

विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल ने व्यवस्था दी कि प्रश्नकाल में प्रतिपक्ष के सदस्य एक पोस्टरनुमा कागज लहराते हुए नारेबाजी करते रहे। आसंदी द्वारा सभा की कार्रवाई स्थगित करने के बाद भी जब पुन: कार्रवाई प्रांरभ हुई तब भी विपक्षी सदस्यों ने अपनी नारेबाजी जारी रखी और गर्भगृह में प्रवेश किया। निलंबित सदस्यों को सभा कक्ष से बाहर चले जाना चाहिए, किंतु वे सभाकक्ष से बाहर नहीं गए। इस प्रकार इन्होंने इस सभा द्वारा बनाए गए नियमों का उल्लंघन किया।
सदन के कार्य संचालन की नियमावली सदन ने ही बनाई है, जिसके वे अविभाज्य अंग हैं। यदि वे अपने द्वारा बनाए गए नियमों का पालन नहीं करते हैं तो वे स्वयं अपनी ही अवमानना करते हैं। सभा और स्वयं की गरिमा को बनाए रखना सदस्यों का ही दायित्व है। मैं यह उनके विवेक पर छोड़ता हूं कि अपनी स्वयं की गरिमा को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए उन्हें किस प्रकार का आचरण करना चाहिए।।


ट्रांसफॉर्मर लगाने के नाम पर 15 हजार लेकर मुनीम फरार

17 December 2014
जगदलपुर/दुर्गूकोंदल। कोयलीबेड़ा ब्लाक के माड़कट्टा में राजीव गांधी विद्युतीकरण योजना के तहत भोले आदिवासियों सेे प्रत्येक घर से 5-5 सौ वसूले गए। ठेकेदार के सहायक ने अधिक पावर के ट्रांसफार्मर लगाने के नाम पर ग्रामीणों से 15 हजार वसूलकर फ रार हो गया है।
ठेकेदार के कर्मचारियों ने ग्रामीणों से कहा कि पावर फूल ट्रांसफार्मर लगाने विद्युत विभाग के अधिकारियों को घूंस देना पड़ता है। ग्रामीणों ने ठेकेदार के कहने पर विद्युत पोल को आसुलखार गांव से खुद के पैसे से परिवहन कर लाये लाइन बिछाने अब विद्युत विभाग और ठेकेदार की राह देख रहे हैं। एक साल बीत गये। विद्युत विभाग और ठेकेदार के कोई भी कर्मचारी आज तक पोरोण्डी पंचायत के माड़कट्टा गांव नहीं पहुंचे हैं।
ग्रामीण दिनेश धु्रव, दयाराम पटेल, संपत दुग्गा, उदेसिंह उसेण्डी, मंगतूराम ध्रुवा, धरमसिंह ध्रुवा, सनकाय कोमरा, तिजायबाई, सोनायबाई, जनकोबाई, अहिल्याबाई, मकुन्द्राबाई ने बताया कि कई वर्षो से हमारे गांव बिजली नहीं आई थी, पिछले वर्ष राजीव गांधी विद्युतीकरण के तहत पोल विस्तार के लिए ठेकेदार व उनके कर्मचारी गांव आये। और विद्युत मंगवाये। गांव के लोग दो-दो सौ रूपये चंदा कर आसुलखार क्षेत्र विद्युत पोल ट्रक में परिवहन कर लाए।


राजधानी के डेढ़ दर्जन से ज्यादा वार्डों में बागियों का त्रिकोणीय मुकाबला

17 December 2014
रायपुर। नामांकन दाखिले के साथ शहर के 17 वार्डों में बागियों की वजह से अभी से त्रिकोणीय संघर्ष के हालात पैदा हो गए हैं। पार्टी से टिकट नहीं मिलने के कारण कांग्रेस और भाजपा, दोनों ही दलों से ऐसे बागी ज्यादा हैं जो पिछली नगर निगम परिषद में पार्षद थे। कुछ ऐसे हैं जिन्हें पार्षद होने के बावजूद पिछले चुनाव में आरक्षण की वजह से टिकट नहीं मिला था। इस बार आरक्षण मनमाफिक हुआ तो पार्टी ने उन्हें फिर नहीं दोहराया। अभी डेढ़ दर्जन वार्डों में इन्हीं की वजह से ऐसे हालात बन रहे हैं। जिन लोगों को अभी बागी माना जा रहा है,
उनमें से कुछ ने तो कांग्रेस-भाजपा की ओर से ही पर्चा दाखिल किया है। बी-फार्म जमा नहीं करने की दशा में वे निर्दलीय हो जाएंगे। लेकिन कुछ ने तो जंग का ऐलान करते हुए अभी से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में पर्चा दाखिल कर दिया है। ऐसे प्रत्याशी हालांकि दोनों ही दलों में हैं, लेकिन कांग्रेस में संख्या ज्यादा है।

गुढियारी जोन के चार वार्ड में कड़ा संघर्ष

गुढियारी जोन में कुल 10 वार्ड आते हैं। लगभग एक लाख के करीब इन दस वार्ड में वोटर हैं। इसमें से तीन वार्ड में बगावत के बिगुल अभी से बज गए हैं। गुढियारी जोन का सबसे बड़ा रामकृष्ण परमहंस वार्ड है। यहां 25 हजार 461 वोटर हैं। किरणमयी नायक के शासन काला में निर्दलीय के रुप में चुनी गई अंजू चंद्रशेखर तिवारी को कांग्रेस ने टिकट दिया है। वे काफी दबंग महिला हैं। उनके सामने मात्र 20 साल की नव नवेली दुलहन राधा प्रीतम ठाकुर को भाजपा ने टिकट दिया है।
बरसों से मेहनत करने के बाद बाहरी प्रत्याशी को टिकट देने की वजह से कांग्रेसी नाराज हैं। जय भारती व भारती साहू के साथ ही शिवसेना की ललतेश पांडे और लोजपा की रेणु तिवारी के बीच 25 हजार वोट बंट सकते हैं। जोन 8 के अध्यक्ष नारद कौशल अपनी पत्नी सावित्री कौशल के लिए टिकट मांग रहे थे।
मगर टिकट कमलेश्वरी मनोज को मिली। बगावत करके उन्होंने अपनी पत्नी का नामांकन फार्म जमा कर दिया है। बड़ा वार्ड है 15 हजार की आबादी है अगर नाम वापस नहीं लेते हैं तो त्रिकोणीय संघर्ष की स्थिति बन जाएगी। सरदार वल्लभ भाई पटेल वार्ड से पार्षद खेमलाल साहू ने अपनी पत्नी रेखा साहू को खड़ा किया है। टिकट मिलने के बाद इलाके के विधायक राजेश मूणत के बंगलेे में 300 महिलाओं ने प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि पार्षद की पत्नी ने कभी कार्यकर्ता के रूप में काम नहीं किया है। जबकि यहां पर अमरीका बाई और निशा बदरोटे लंबे समय से सक्रिय हैं। ये वो वार्ड हैं जहां से विकास उपाध्याय ने 1700 वोट से राजेश मूणत से बढ़त बनाई थी। रामनगर इलाके में छेदीलाल केशरवानी की महिला कार्यकर्ता भी कल्पना वर्मा को टिकट देने का विरोध कर रही हैं।

चार पार्षद प्रत्याशियों के फार्म रिजेक्ट

जिला निर्वाचन अधिकारी व कलेक्टर ठाकुर राम सिंह ने मंगलवार को नामांकन फार्म की जांचशुरू करते हुए चार पार्षद प्रत्याशियों के फार्म रिजेक्ट कर दिए हैं। अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित वार्ड नंबर 23 रानी लक्ष्मी बाई वार्ड के तीन प्रत्याशी संजय सोनी, भगवान दीप और के जानराय के नाम निर्देशन पत्र में अनुसूचित जाति दर्ज है। पर तीनों की जाति इस श्रेणी में नहीं हैं, इसलिए फार्म रिजेक्ट हुए। संजय सोनी और भगवान दीप ने अपनी जाति डोम्बो बताई थी।
जबकि के जान राय ने अपनी जाति माला बताई थी। अन्य पिछड़ा वर्ग के महिला के लिए आरक्षित 26 नंबर वार्ड में कुशाभाऊ ठाकरे वार्ड में उमा सोनी ने गाडा जाति लिखी है। ये अनुसूचित जनजाति में शामिल है, किंतु फार्म ओबीसी श्रेणी में भरा गया इसलिए रिजेक्ट हो गया।

घने शहर में बागी तेवर

शहर के बीच में बैजनाथपारा, सिविल लाइंस, स्टेशन रोड और फाफाडीह चौक के बाजार और रिहायशी इलाके में भी बगावती तेवर है। बैजनाथपारा में अकरम कुरैशी ने एजाज ढेबर को टिकट देने पर खुली बगावत की है। पार्षद राधे बुंदेला बुजुर्ग हैं, जबकि कांग्रेसी और निर्दलीय, दोनों ही युवा है। नाम वापसी नहीं होती है तो तीनों में तगड़ा संघर्ष हो सकता है। सिविल लाइंस वार्ड से अशोक मनवानी की टिकट भाजपा ने काट दी। उनकी जगह योगी अग्रवाल को टिकट मिली है। उन्होंने नामांकन भर दिया है। लेकिन 19 को वे अपना नाम वापस नहीं लेते हैं तो संघर्ष त्रिकोणीय हो जाएगा। जवाहर नगर वार्ड से कांग्रेस के विमल गुप्ता और भाजपा के चंद्रेश शाह को हेमंत साहू से सीधी टक्कर मिल सकती है।

पार्षदों के विद्रोही तेवर

एमआईसी सदस्य आशा इजराइल जोसेफ ने पंडित रविशंकर शुक्ल वार्ड से टिकट मांगा था। कांग्रेस ने उनकी कविता चौधरी को इस आधार पर टिकट दिया कि इस वार्ड से पिछले चार चुनाव से जोसेफ परिवार ही टिकट पाता और जीतता रहा है। टिकट कटने के बाद जोसेफ ने कांग्रेस भवन में गुस्से का इजहार करने के बाद निर्दलीय नामांकन भी भर दिया है। सदर बाजार वार्ड के पार्षद पति सतीश जैन की जगह युवक कांग्रेसी अमित शर्मा को टिकट दिया गया। वे उस वार्ड के रहवासी नहीं है। सतीश जैन ने बगावत करते हुए तात्यापारा वार्ड से नामांकन भर दिया है। राजेंद्र नगर वार्ड से निर्दलीय पार्षद गोविंद मिश्रा ने दो साल पहले भाजपा में प्रवेश किया।

पुराने शहर में गुस्सा

पुरानी बस्ती और टिकरापारा के तीन वार्डों की राजनीति बागी प्रत्याशियों के इर्द-गिर्द घूम रही है। शहीद राजीव पांडे वार्ड सामान्य वर्ग के लिए आरक्षित हुआ। भगवतीचरण शुक्ल वार्ड के पार्षद पति जावेद ने सामान्य वार्ड से सामान्य को टिकट की मांग करते हुए टिकरापारा में दावा ठोंका, लेकिन टिकट मौजूदा पार्षद समीर अख्तर के खाते में गई। ऐसे में जावेद ने बगावत का बिगुल बजा दिया। टिकरापारा के ही ब्रिगेडियर उस्मान वार्ड से जग्गू ठाकुर ने कांग्रेस से टिकट मांगा। टिकट वर्तमान पार्षद सतनाम पनाग को मिली। जग्गू के यहां संपर्क अच्छे हैं, इसलिए मुकाबला दिलचस्प होने की संभावना है। पुरानी बस्ती के लक्ष्मीनारायण वार्ड से पुराने पार्षद राजेश ठाकुर ने टिकट मांगा था।


नक्सल हमले में चूक की जांच शुरू

16 December 2014
रायपुर। सुकमा में एक दिसंबर को हुए नक्सली हमले में हुई चूक मामले की जांच शुरू हो गई है। गृह मंत्रालय में नक्सल मामले के सलाहकार विजय कुमार के नेतृत्व में गठित कमेटी ने सोमवार को अपना काम शुरू कर दिया। श्री कुमार सोमवार को रायपुर पहुंचे। कमेटी के अन्य सदस्यों के साथ वे दोपहर को सुकमा के लिए रवाना हो गए। सोमवार को पूरी टीम सुकमा पहुंची। यहां घटना स्थल का जायजा लिया। वहां से लौटकर टीम ने जगदलपुर में बैठक की है। मंगलवार को टीम बीजापुर रवाना होगी। वहां से लौटकर टीम रायपुर आकर रिपोर्ट तैयार करेगी।
केंद्रीय गृह मंत्रालय ने गृह मंत्रालय, आईबी, सीआरपीएफ और राज्य पुलिस के आला अधिकारियों की टीम बनाई गई है। रिपोर्ट तैयार करने के लिए कमेटी को दो सप्ताह का समय दिया गया है।
गृह मंत्रालय ने 1 दिसंबर को हुई नक्सली वारदात की पूरी जानकारी मांगी है। इसमें अभियान में शामिल जवानों की स्थिति, ग्रुप की ओर से उठाए गए सुरक्षा उपाय, खुफिया विभाग को नक्सलियों के बारे में मिली जानकारी दी जाएगी।
बताया जा रहा है कि रिपोर्ट में गृह मंत्रालय की ओर से मिले सुझाव को ऑपरेशन के दौरान पूरा किया गया कि नहीं, इसकी भी जानकारी देनी है। इसके साथ ही भविष्य में इस तरह की घटना के दोहराव को रोकने के लिए क्या उपाय किए जा सकते हैं, इसकी जानकारी भी मांगी गई है। टीम में शामिल सदस्य इन सब बिंदुओं पर जानकारियां इकट्ठा कर अपनी रिपोर्ट देंगे।
आरके विज, एडीजी, नक्सल आपरेशन ने बताया कि केंद्रीय गृहमंत्रालय द्वारा गठित कमेटी सोमवार को सुकमा पहुंची। मैं भी कमेटी का सदस्य हूं। दो दिन के दौरे में सुकमा, बीजापुर, जगदलपुर और आस-पास के क्षेत्रों का दौरा करेंगे। लौटकर इस पर रायपुर में बैठक होगी।


दूसरे दिन भी काले लिबास में पहुंचे कांग्रेसी, कार्यवाही स्थगित

16 December 2014
रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा सत्र के दूसरे दिन भी काले लिबास में पहुंचे विपक्ष ने जोरदार हंगामा किया, जिसके चलते सदन दस मिनट के लिए स्थगित कर दिया। मंगलवार को सदन की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल के खिलाफ नारेबाजी की और इस्तीफे की मांग पर अड़े रहे।
सदन की कार्यवाही दोबार शुरू होते ही विपक्ष विधानसभा के गर्भगृह में पहुंच गए और फिर से हंगामा शुरू कर दिया। जिसके सदन की कार्यवाही दोबारा 12 बजे तक स्थगित कर दी गई। उधर, सदन में छत्तीसगढ़ सरकार शीत सत्र के दूसरे दिन अनुपूरक बजट को पेश करेगी। इसके साथ संकल्प विधेयक के साथ पांच संशोधन को सदन में पारित कराएगी।


भाजपा-कांग्रेस में भड़की बगावत की आग

16 December 2014
बिलासपुर। सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी में मेयर से लेकर पार्षद पद के टिकटों की घोषणा में निष्ठावान कार्यकर्ताओं की उपेक्षा पर अंदरूनी कलह उफान पर आ गई है। कैडर बेस्ड भाजपा संगठन ने अनुशासन का डंडा लहराया तो कुछ पीछे हट गए, लेकिन कई निर्दलीय बनकर मैदान में डटे हुए हैं। मंगलवार से नामांकन वापसी शुरू होगी, इसलिए अंतिम दिन ही तस्वीर साफ हो पाएगी। मेयर पद के लिए पूर्व पार्षद भगवती साहू ने शनिवार को नामांकन फाॅर्म खरीदा, लेकिन चुनाव संचालक व मंत्री अमर अग्रवाल की समझाइश पर सोमवार को उन्होंने नामांकन भरने का इरादा टाल दिया।
मेयर के दावेदार रहे भगवती साहू का कहना है, अंतिम दिनों में उन्हें जानकारी मिली थी कि टिकट के पैनल में उनके नाम पर भी विचार चल रहा था। शनिवार को जब टिकट घोषित हुआ तो निराशा हाथ लगी। इसके बाद निर्दलीय फॉर्म भरने की तैयारी की। अमानत राशि जमा की, निगम से एनओसी हासिल किया, लेकिन औपचारिकता पूरी करने में नामांकन का समय पार हो गया। बताया जाता है कि मंत्री ने भगवती को बुलवाकर मेयर के लिए निर्दलीय फाॅर्म नहीं भरने के लिए समझाया था।
इधर टिकट नहीं मिला, उधर भाई का सिंगल नाम भी कटा
भगवती साहू ने वार्ड-48 से छोटे भाई रामप्रकाश साहू के लिए पार्षद का टिकट मांगा था। यह वार्ड बेलतरा विस क्षेत्र में है, इसलिए स्थानीय विधायक बद्रीधर दीवान ने उसके भाई का सिंगल नाम रखा। ऐन वक्त मंत्री ने रामप्रकाश का पत्ता काटकर संतोष यादव का टिकट पक्का कर दिया।
इसके पीछे तर्क था कि कांग्रेस से मेयर का टिकट रामशरण यादव को मिला है, इसलिए यादव कैंडिडेट खड़े करने होंगे। बताया जाता है कि मेयर के लिए दावेदारी के साथ भगवती ने भाई का टिकट काटने का भी मुद्दा उठाया, लेकिन मंत्री ने उन्हें यह कहकर शांत कर दिया कि रणनीति के हिसाब से ऐसा निर्णय लेना पड़ा। इसके बाद रामप्रकाश ने भाजपा के अधिकृत प्रत्याशी के विरुद्ध निर्दलीय फाॅर्म भर दिया है।

पार्षदाें के भी टिकट कटे

भाजपा में कई पार्षदों के टिकटें काटकर नए लोगों को मौका दिया गया है। हालांकि कुछ पार्षदों के वार्ड आरक्षण की जद में आ गए थे, जिसके कारण उन्होंने अन्य वार्डों से टिकट मांगी। उन्हें यहां से टिकट नहीं मिला।

पार्षदों के रिश्तेदारों को टिकट

भाजपा में कई पार्षदों के रिश्तेदारों को टिकट की सौगात दी गई। कुछ ऐसे भी थे, जिन्हें मेयर के टिकट के चक्कर में वार्ड से हाथ धोना पड़ा। निगम में नेता प्रतिपक्ष महेश चंद्रिकापुरे का वार्ड आरक्षण में छिनने के बाद वार्ड-15 से टिकट दिया गया।
उनके पुराने वार्ड से उनकी भतीजी मीनाक्षी गोमर्डे को टिकट मिल गया। दूसरी ओर वार्ड-30 नागोराव शेष नगर के पार्षद व उप नेता ओमप्रकाश देवांगन ने मेयर के लिए दावेदारी की, लेकिन निराशा हाथ लगी। उनके वार्ड से पार्षद का टिकट अतुल बापते को दिया गया, जिसकी अनुशंसा खुद देवांगन ने की थी। इस तरह मेयर टिकट की चाहत में उन्हें वार्ड से भी हाथ धोना पड़ा।
वार्ड- 7 से लक्ष्मीनारायण की पत्नी अंजनी कश्यप
वार्ड- 8 से अनुज टंडन की पत्नी मधुबाला टंडन
वार्ड- 25 से पूर्व मेयर विनोद सोनी की पत्नी रजनी
वार्ड- 28 से पार्षद दुर्गा सोनी की पत्नी रजनी सोनी
वार्ड- 44 से अमरदास बंजारे की पत्नी रश्मि बंजारे
वार्ड- 45 से जीतू साहू की पत्नी सुनीता साहू
वार्ड- 53 से एल्डरमैन विजय ताम्रकार की पत्नी ममता ताम्रकार

बागियों को बाहर का रास्ता दिखाएंगे

जिले की पथरिया और लोरमी नगर पंचायत की सूची असंतोष के चलते सोमवार को भी घोषित नहीं हो पाई। प्रदेश भाजपा के महामंत्री भूपेंद्र सवन्नी का कहना है कि चुनाव में प्रत्याशियों की घोषणा रणनीति के तहत की जाती है। लोरमी व पथरिया की सूची पर इसी हिसाब से विचार-विमर्श चल रहा है। भाजपा कैडर बेस्ड पार्टी है और यहां अनुशासित सिपाही हुआ करते हैं। बगावत के लिए पार्टी में कोई जगह नहीं है। जिलाध्यक्ष राजा पांडे के मुताबिक मस्तूरी से आए पार्टी कार्यकर्ताओं को समझाया गया है। बगावत की कोई गुंजाइश नहीं है, जहां भी अधिकृत प्रत्याशी के विरुद्ध गतिविधियों में कोई संलग्न पाया जाएगा, उसे बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा।

निकायों में टिकट न मिलने से नाराजगी

जिले की कई नगर पंचायतों में भाजपा से टिकट नहीं मिलने पर दावेदारों में असंतोष गहराने लगा है। नगर पंचायत की सूची घोषित होते ही पार्षद पद के टिकट से वंचित लोग जिला भाजपा कार्यालय में दस्तक देने लगे हैं, लेकिन बात नहीं बनी। इधर पति पर नजरे इनायत: आरक्षण में वार्ड का स्टेटस बदलने पर पतियों की जगह पत्नियों को टिकट मिलने की बात स्वाभाविक है, लेकिन निगम के वार्ड-58 में पार्षद सीमा दुसेजा की जगह उनके पति राजेश दुसेजा को टिकट की सौगात मिली है।


कश्मीर मैदान बन गया है भारत-पाक के गुस्से का: बशीर

15 December 2014
रायपुर। भवानी बशीर यासिर श्रीनगर [जम्मू-कश्मीर की राजधानी] में इनसेंबल कश्मीर थिएटर एकेडमी [एकता] के निर्देशक हैं और नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से पोस्टग्रेजुएट। साहित्य महोत्सव पहुंचे यासिर ने खुलकर अपनी बातें रखीं।
उन्होंने कहा कि कश्मीर आज दो हाथियों के बीच कुचला जा रहा है। कश्मीर आज भारत-पाक के गुस्से का मैदान बना हुआ है, वहां लोग बंदूकों के साए में सांस लेने को मजबूर हैं और किसी को नहीं पता कि किस एके-47 की गोली पर किसका नाम लिखा है। 'नईदुनिया' से बातचीत में कश्मीरियों के दर्द की दास्तां यासिर ने बयां की..

सवाल-आपने अभी-अभी मंच से कहा कि कश्मीर दो हाथियों के बीच कुचला जा रहा है, इसका क्या मतलब है?
बशीर-मैंने कश्मीरियों का दर्द आपके सामने रखा है। आज कश्मीर भारत-पाक के गुस्से का मैदान बन गया है। अगर आप घर से निकल रहे हैं तो आपके पास पहचान पत्र होना जरूरी है, क्योंकि कहीं भी आपको रोककर यह पूछ लिया जाएगा कि पहचान पत्र दिखाओ। नहीं दिखाए तो लात-जूते खाओ और विरोध किया तो गोली। ऐसे ही हजारों लोग मारे जा रहे हैं। जब जांच होती है तो कह दिया जाता है कि उसने राइफल छीनने की कोशिश की तो बचाव में गोली चलानी प़़डी।

सवाल-कश्मीर की जनता क्या चाहती है? क्या वह भारत में मिलना चाहती है या फिर पाकिस्तान में?

बशीर-निष्पक्ष होकर कहूं तो 5 फीसदी जनता चाहती है कश्मीर में मिलना, लेकिन वहां हालात अलग हैं। कश्मीर के 4 टुकडे़ हो गए हैं। चीन आकोपाइड कश्मीर, नॉर्दन एरिया ऑफ पाकिस्तान, पाक आकोपाइड कश्मीर और इंडियन आकोपाइड पाक। वहां की 78 फीसदी अवाम का मत है कि वह आजाद कश्मीर चाहती है। इंडेपेंडेंट कश्मीर।

सवाल-हालात बदले हैं, सुना है 78 फीसदी वोटिंग हुई है? तो क्या यह माना जाए कि सत्ता बदलने से हालात बदलेंगे? अगर भाजपा के गठबंधन वाली सरकार बनती है तो?

बशीर-जब कांग्रेस की सरकार थी तो कश्मीरी हिंदू बैंक में, सेना में सरकारी दफ्तरों में, सरकारी नौकरियों में रखे जाते थे, लेकिन कश्मीरी मुस्लमान नहीं। क्योंकि कभी कांग्रेस की सरकार को कश्मीरी मुस्लमानों पर भरोसा ही नहीं रहा। कश्मीर की ल़़डाई भारत के नागरिकों से नहीं हैं, बल्कि सत्ता से हैं।

सवाल-ये तो हुई कश्मीर की बात, अवाम का दर्द.. कश्मीर में आप थिएटर अकादमी भी चलाते हैं?
बशीर-कश्मीर का साहित्य 5 हजार साल पुराना है, हम कोशिश कर रहे हैं कि उसे कोने-कोने तक पहुंचाएं। अच्छे कलाकार हैं, युवा अच्छी मेहनत भी कर रहे हैं, लेकिन तकलीफ है कि कश्मीरी, कश्मीरी में नहीं, अंग्रेजी में बात करते हैं।


सारडा ग्रुप में पकड़ी 25 करोड़ की टैक्स चोरी

15 December 2014
रायपुर। सारडा गु्रप में आयकर विभाग की जांच रविवार को चौथे दिन भी जारी रही। इस दौरान टीम को कच्चे रसीदों में विदेशी सौदे और विदेशी निवेश के दस्तावेज मिले हैं। इसकी जांच के लिए आयकर विभाग ने विदेश मंत्रालय को इंडोनेशिया स्थित कोयले और मैग्नीज की खदान तथा ब्रिटिश आयरलेंड की एक कंपनी की जांच के लिए पत्र लिखा है। जांच के दौरान टीम को अब तक छत्तीसगढ़ में करीब 25 करोड़ रुपए की टैक्स चोरी का सुराग मिला है।
आयकर विभाग के अधिकारियों ने बताया कि इस समय सारडा ग्रुप के तीन ठिकानों पर जांच चल रही है। इसमें फैक्ट्री और मुख्यालय दफ्तर के साथ घर भी शामिल है। टीम को स्टॉक में भारी गड़बड़ी मिली है। फैक्ट्री में कच्चे माल की आवक दिखाई गई है, लेकिन तैयार माल की आपूर्ति का कोई रिकॉर्ड नहीं है। कागजों में कंपनी को नुकसान पर चलना बताया गया है, लेकिन हालात इसके ठीक विपरीत हैं। टैक्स चोरी करने संचालकों ने सभी लेनदेन कच्चे कागजों में किया है और सारे कामकाज कोड वर्ड में किए गए हैं।
गौरतलब है कि आयकर विभाग की टीम ने देश के 6 राज्यों के 23 ठिकानों में छापा मारा था। इस दौरान टीम के हाथ लगभग 100 करोड़ की टैक्स चोरी पकड़ी गई। इसमें छत्तीसगढ़ के 15 ठिकाने शामिल हैं, जहां से 25 करोड़ की टैक्स चोरी का मामला सामने आया है। फिलहाल सारडा गु्रप के 10 ठिकानों को जांच के बाद सील कर दिया गया है। अभी तीन ठिकानों पर जांच चल रही है।


भूपेश के राम को मौका, जोगी के विष्णु दरकिनार

15 December 2014
बिलासपुर। बिलासपुर महापौर प्रत्याशी का नाम तय करने के मामले में आखिरकार प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी पर भारी पड़ गए। भूपेश ने बिलासपुर के महापौर प्रत्याशी के लिए रामशरण यादव का नाम ही घोषित करवाया। जबकि जोगी विष्णु यादव को टिकट दिलाना चाहते थे। इसी बात को लेकर शुक्रवार की रात कांग्रेस भवन में जमकर विवाद हुआ था और अध्यक्ष पर कुर्सियां उछाली गई थीं।
रामशरण बिलासपुर के पूर्व विधायक और पूर्व मंत्री स्व. बीआर यादव के रिश्तेदार हैं। उनका मुकाबला भाजपा के किशोर राय से होगा। भूपेश और जोगी की खींचतान के कारण ही शनिवार को बिलासपुर प्रत्याशी की घोषणा नहीं की जा सकी थी। कांग्रेस भवन में हुए विवाद का असर शनिवार को हुई कांग्रेस चुनाव समिति की बैठक में भी देखने को मिला। शनिवार की रात जब कांग्रेस भवन में बैठक हुई तो उसमें जोगी नहीं गए थे। इस विवाद के चलते ही पहले चरण के लिए नामांकन की तिथि खत्म होने के एक दिन पहले कांग्रेस टिकट तय कर पाई। रविवार को 100 अध्यक्ष प्रत्याशियों के नामों का ऐलान किया गया। इनमें नगर पालिका और नगर पंचायत दाेनों के ही प्रत्याशी तय किए गए हैं। 36 नगर पालिका और 63 नगर पंचायत के अध्यक्ष के प्रत्याशियों के नामों का ऐलान करने के बाद चुनाव समिति की फिर से बैठक बुलाई गई है। पहले चरण 19 नगर पालिका और 22 नगर पंचायतों में कल 15 दिसंबर को नामांकन की आखरी तारीख है।
कांग्रेस ने अभी तीन नगर पालिका और 42 नगर पंचायतों के प्रत्याशियों की सूची जारी नहीं की है। 1-2 दिन में बचे हुए निकायों के प्रत्याशियों का ऐलान किया जा सकता है।

कांग्रेस से ज्यादा गुटबाजी भाजपा में : अजीत जोगी

कांग्रेस एक बड़ी पार्टी है, इसलिए गुटबाजी स्वाभाविक है। लेकिन चुनाव में सभी एक होकर पार्टी के लिए काम करते हैं। कांग्रेस से ज्यादा गुटबाजी तो भाजपा में हैं। दुर्ग में प्रेमप्रकाश पांडेय व सरोज पांडेय, बिलासपुर में अमर अग्रवाल व धरमलाल कौशिक के बीच भाजपा बंटी है।
-साजा में अजीत जोगी ने कहा

चुनावी माहौल के बीच शीत सत्र आज से

छत्तीसगढ़ विधानसभा का शीतकालीन सत्र सोमवार से प्रारंभ हो रहा है। छोटा सत्र होने के बावजूद इसमें जमकर हंगामा होने के आसार हैं। कांग्रेस विधायकों ने सत्र में रोज सरकार को घेरने का फैसला किया है। इसके चलते विधानसभा की कार्यवाही बाधित रहेगी। नसबंदी कांड की वजह से स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल से इस्तीफा करने की मांग को लेकर कांग्रेस विधायक हंगामा करने वाले हैं। राज्य सरकार को सत्र के तीन दिन की कार्यवाही अनिवार्य रुप से चाहिए। पांच संशोधन विधेयकों के अलावा अनुपूरक बजट को पारित करवाना सरकार की मजबूरी है। इसमें पंचायती राज संशोधन विधेयक भी होगा। इसके पारित होने के बाद ही राज्य में पंचायत चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो पाएगी।


मोदी जहां जाते हैं, वहां सुनामी आ जाती हैः डॉ. रमन

13 December 2014
रायपुर। भाजपा के सदस्यता महाअभियान में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने हुंकार भरते कहा कि भाजपा के कार्यकर्ताओं की अपराजेय सेना है, जिसे इस प्रदेश में अब कोई नहीं हरा सकता। राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में उन्होंने भरोसा दिलाया कि नगरीय निकाय चुनाव और पंचायत चुनाव में भाजपा की शत-प्रतिशत जीत होगी।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए डॉ. सिंह ने कहा कि लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस मजाक उड़ाती थी कि चाय बेचने वाला देश का प्रधानमंत्री कभी नहीं बनेगा। अब माहौल ऐसा है कि देश में न लहर, न तूफान, मोदी जहां जाते हैं, सुनामी आ जाती है। नरेंद्र मोदी ने देश की दिशा बदल दी, युग बदल दिया। डॉ. सिंह ने कहा कि यह पहला अवसर है, जब बस्तर से सरगुजा तक के मंडल से लेकर प्रदेश संगठन के पदाधिकारी एक साथ बैठे हैं। भाजपा सदस्यता अभियान पूरा करके राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के नेतृत्व में विश्व की सबसे बड़ी पार्टी बनने जा रही है। उन्होंने प्रदेश की विकास योजनाओं का भी जिक्र किया।
भाजपा सरकार के 11 साल पूरे होने पर राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का सम्मान भी किया। एक-एक कार्यकर्ता मिलकर पूरा करेंगे लक्ष्य प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि सदस्यता अभियान का लक्ष्य पूरा करने के लिए एक-एक कार्यकर्ता को पूरी मेहनत करनी है। इस लक्ष्य को पूरा करके भाजपा प्रजातांत्रिक देशों में सबसे बड़ी पार्टी बन जाएगी। प्रदेश में नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव में भाजपा का परचम लहराना है। राजस्थान और मध्यप्रदेश में हुए नगरीय निकाय चुनाव में पार्टी की जीत हुई है। छत्तीसगढ़ में पिछले चुनाव से ज्यादा जनप्रतिनिधियों को इस चुनाव में जीत दिलाकर भाजपा का परचम लहराना है।


सौतेले पिता ने मासूम के साथ किया दुष्कर्म

13 December 2014
बिलासपुर/अंबिकापुर। शहर में रिश्ते को कलंकित करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। एक सौतेले पिता ने दस वर्षीय बच्ची के साथ न केवल दुष्कर्म किया, बल्कि इसकी जानकारी किसी को देने पर जान से मारने की भी धमकी भी दी। धमकी से डरी हुई बच्ची ने इसकी जानकारी पड़ोस में रहने वाली एक महिला को दी। इसकी जानकारी एसपी को मिलने के बाद उन्होंने गांधीनगर पुलिस को भेजकर कार्रवाई करने के निर्देश दिए।
जानकारी के अनुसार शहर के गांधीनगर क्षेत्र में स्थित एक कॉलोनी में किराए के मकान में रहकर मजदूरी का काम कर एक युवक अपना घर चला रहा था। उसकी एक सौतली पुत्री भी है, जिसकी उम्र दस वर्ष है। तीन दिन पूर्व जब बालिका की सौतली मां अपने मायके गई हुई थी, तभी उसके सौतेले पिता ने उसके साथ दुष्कर्म किया और इसकी जानकारी किसी को नहीं देने को कहा। घटना के बाद से बच्ची काफी डरी-सहमी हुई थी।
वह सोमवार से ही घर छोड़कर पडोस में रहने वाली एक महिला जिसे वह बड़ी मां बोलती थी, वहां रह रही थी। इस संबंध में जब उसके पड़ोसी ने उससे पूछा तो उसने डरते हुए पूरी घटना बताई। इसके बाद भी कोई इस घटना की जानकारी पुलिस तक पहुंचाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था।
शुक्रवार की सुबह एसपी सुन्दरराज पी को किसी से इस घटना के बारे में जानकारी प्राप्त हुई तो उन्होंने गांधीनगर पुलिस को तत्काल मौके पर पहुंच जांच करने को को कहा। गांधीनगर पुलिस ने मौके पर पहुंच बच्ची से पूरे घटनाक्रम की जानकारी ली और उसके सौतले पिता को तलाशी शुरू कर दी है। पुलिस के पहुंचने की जानकारी मिलते ही आरोपी पिता फरार है। पुलिस ने आरोपी खिलाफ धारा 376 व 3, 4 पास्का अधिनियम के तहत जुर्म दर्ज कर ली है। पुलिस जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार करने का दावा कर रही है।

बालिका के माता-पिता की हो चुकी है मौत

बालिका के पिता की मौत कुछ वर्ष पूर्व ही गांव में हो चुकी थी। इसके बाद उसकी अपनी मां उसे लेकर अंबिकापुर आ गई थी। इस दौरान मजदूरी करने के दौरान उसका संपर्क बालिका के सौतेले पिता से हुई। प्रेम संबंध में बालिका की मां गर्भवती हो गई थी। बच्चे को जन्म देने के दौरान दोनों की ही मौत हो गई थी। इसके बाद बच्ची अपने सौतले पिता के साथ रह रही थी। इसी बीच सौतले पिता ने दूसरी शादी कर ली। घटना से कुछ दिनों पूर्व ही बालिका की सौतेली मां भी अपने मायके गई हुई थी। एक कमरे का मकान होने की वजह से सौतले पिता ने रात में बच्ची के साथ दुष्कर्म किया।

सीडब्ल्यूसी को सौंपेंगे बच्ची को

पुलिस ने बच्ची से बात करने के बाद सीडब्ल्यूसी से इस संबंध में चर्चा की। बच्ची का अपना कोई नहीं होने की वजह से पुलिस बच्ची को सीडब्ल्यूसी को सोमवार को सौंप देगी।


आधी रात कांग्रेस भवन में हंगामा, भूपेश पर उछाली कुर्सियां

13 December 2014
रायपुर । कांग्रेस भवन में नगरीय निकाय के टिकट तय करने के लिए चल रही बैठकों के बीच शुक्रवार को आधी रात हंगामा हो गया। भीतर बैठक चल रही थी, तभी बिलासपुर से आए कांग्रेस नेताओं ने पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी को लेकर गालीगलौज शुरू कर दिया। जोगी समर्थकों ने जैसे ही गालियां सुनीं, वे भी आपे से बाहर हो गए तथा दोनों पक्षों में मारपीट की नौबत आ गई।
इसी दौरान बाहर आए प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल को निशाना बनाकर किसी जोगी समर्थक ने कुर्सी फेंकी। इससे तनाव और बढ़ गया तथा दोनों पक्षों में जमकर गालीगलौज और झूमाझटकी चली। विवाद बढ़ने लगा तो किसी की सूचना पर काफी फोर्स मौके पर पहुंच गई। तब जाकर मामला शांत हुआ। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि बैठक के दौरान प्रदेश अध्यक्ष भूपेश पार्टी के राष्ट्रीय सचिव भक्तचरण दास के साथ कुछ देर के लिए बाहर निकले थे, तब विवाद शुरू हुआ।
दरअसल बिलासपुर में महापौर के उम्मीदवार को लेकर सुबह से खासी तनातनी सुबह से चल रही थी। सूत्रों के अनुसार भूपेश बिलासपुर में रामशरण यादव को टिकट देने के पक्ष में थे, जबकि जोगी विष्णु यादव के नाम पर मुहर लगवाना चाहते थे। तनाव चल ही रहा था कि बिलासपुर से अटल श्रीवास्तव, राजेंद्र शुक्ला, अभयनारायण राय तथा समर्थक पहुंच गए। अटल को भूपेश का समर्थक माना जाता है। भूपेश बाहर आकर अटल और समर्थकों से बातचीत कर ही रहे थे, तभी वहां मौजूद किसी कांग्रेसी ने जोगी को लेकर कथित तौर पर गालीगलौज शुरू कर दी
उस वक्त कांग्रेस भवन के गलियारे के बाहर जोगी समर्थक योगेश तिवारी, विनोद तिवारी और सुबोध हरितवाल तथा साथी खड़े थे। गालीगलौज सुनते ही जोगी समर्थक भड़क गए और हुड़दंग शुरू हो गया। उस वक्त भूपेश तथा बिलासपुर के समर्थक कांग्रेस भवन के गलियारे में थे और जोगी समर्थक चैनल गेट से बाहर। बवाल बढ़ा तो भूपेश कांग्रेस भवन के भीतर जाने लगे। इसी दौरान जोगी गुट की ओर से भूपेश के सामने दो कुर्सियां उछाल दी गईं। ये कुर्सियां बरामदे में गिरीं तो बिलासपुर के कांग्रेसियों ने दोनों कुर्सियां वापस जोगी गुट की तरफ उछाल दीं और फिर दोनों गुटों में जमकर गालीगलौज शुरू हो गई। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक दोनों पक्षों में कई बार धक्का-मुक्की तथा मारपीट की नौबत आती रही।
भूपेश के सामने कुर्सी उछालने की खबर कांग्रेस भवन में बैठे नेताओं में फैली तो पूर्व मंत्री मोहम्मद अकबर बाहर निकले। उन्होंने बुरी तरह उलझे दोनों गुटों के लोगों को समझाने की कोशिश की। इस दौरान वहां अकबर के समर्थक मौजूद थे। अकबर को देखकर समर्थक भी लपके और दोनों पक्षों में झड़प होने लगी। इस बीच मौके पर पुलिस पहुंच गई। तब तक अकबर और समर्थक दोनों पक्षों को अलग कर चुके थे। बचे हुए लोगों को पुलिस ने अलग किया और कांग्रेस भवन से बाहर भेजा।

टिकट के लिए विवाद

कांग्रेस के जानकार लोगों का कहना है कि प्रदेश के प्रमुख नगर निगमों में किसी भी भूपेश समर्थक का मेयर का टिकट फाइनल नहीं हो सका है। दुर्ग से वोरा समर्थक, अंबिकापुर से टीएस सिंहदेव समर्थक, कोरबा से चरणदास महंत समर्थक तथा रायपुर-बिलासपुर में अजीत जोगी के समर्थकों के टिकट पर लगभग मुहर लग चुकी है। इसीलिए भूपेश समर्थक नाराज थे और वे चाहते थे कि कम से कम बिलासपुर में उनके प्रत्याशी को टिकट मिले। झगड़े की जड़ यही बताई जा रही है।

उम्मीदवारों को देंगे बी-फॉर्म

कांग्रेस भवन के हंगामे के बाद प्रभारी महासचिव गिरीश देवांगन ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि प्रदेश की सभी सीटों पर फैसला हो गया है। चुनाव समिति की बैठक खत्म कर दी गई है। अब उम्मीदवारों को बी फॉर्म जारी कर दिए जाएंगे।
प्रदेश भाजपा में भी जबर्दस्त खींचतान, आधी रात मुख्यमंत्री पार्टी दफ्तर पहुंचे

प्रदेश भाजपा कार्यालय में निकायों के अध्यक्ष और पार्षद प्रत्याशियों के लिए विभिन्न कमेटियों की बैठक हुई। कई निकायों के नाम फाइनल करने में पदाधिकारियों को मशक्कत करनी पड़ी। यहां तक कि जिला और संभागीय कमेटियों में नाम फाइनल नहीं होने की दशा में प्रदेश चुनाव समिति में नाम भेजे गए। कहा जा रहा है कि खींचतान के चलते ही आधी रात मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को पार्टी दफ्तर जाना पड़ा। जिला समितियों में पार्षद प्रत्याशियों के नामों पर विचार विमर्श किया गया। धमतरी और दुर्ग समेत जिन निकायों में ज्यादा विवाद नहीं था वहां के पार्षद प्रत्याशियों के नाम घोषित कर दिए गए। नगर निगमों के महापौर प्रत्याशियों के नाम तय करने के लिए आधी रात को प्रदेश के पदाधिकारियों के साथ मुख्यमंत्री की अलग से बैठक हुई। कहा जा रहा है कि रायपुर नगर निगम के महापौर प्रत्याशी के लिए नेताओं के बीच जमकर खींचतान हुई। बाद में मुख्यमंत्री के हस्तक्षेप के बाद ही प्रक्रिया आगे बढ़ पाई।

कांग्रेस के संभावित महापौर प्रत्याशी

रायपुर - प्रमोद दुबे
अंबिकापुर - डॉ. अजय तिर्की
दुर्ग - सत्यवती वर्मा
बिलासपुर - रामशरण यादव
राजनांदगांव - विजय पांडे
जगदलपुर - मलकीत सिंह गैंदू
कोरबा - रेणु अग्रवाल
रायगढ़ - जेठूराम मनहर
चिरमिरी - डमरु रेड्डी
धमतरी - सरिता दोषी


शाह के शाही स्वागत के लिए सजी राजधानी

12 December 2014
रायपुर। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का छत्तीसगढ़ में शाही स्वागत की तैयारी चल रही है। सांइस कौलेज मैदान में शुक्रवार को भाजपा सदस्यता अभियान सम्मेलन में अमित शाह 48 हजार भाजपा पदाधिकारियों से सीधा संवाद करेंगे। इसको देखते हुए प्रदेश संगठन ने जोरदार तैयारी की है।
कार्यक्रम संयोजक राजेश मूणत ने बताया कि एयरपोर्ट पर स्टेट हैंडर पर अमित शाह का पुष्पवर्षा कर स्वागत किया जाएगा। इसके बाद पांच हजार भाजयुमो कार्यकर्ता बाइक से हेलमेट लगाकर साइंस कॉलेज मैदान तक अगुवानी करेंगे। एयरपोर्ट से साइंस कॉलेज मैदान के बीच तीन स्थानों पर स्वागत की तैयारी है।
राजेश मूणत ने बताया कि कार्यक्रम स्थल पर कार्यकर्ताओं से सीधा संवाद स्थापित करने के लिए एलईडी स्क्रीन लगाई गई है। कार्यकर्ताओं के बैठने के लिए डे़़ढ लाख वर्गफीट में पंडाल लगाया गया है। प्रदेश पदाधिकारियों और जनप्रतिनिधियों के बैठने के लिए अलग-अलग मंच बनाया गया है। शाह के दौरे को लेकर पदाधिकारियों को जिम्मेदारी बांटी गई है। एयरपोर्ट से लेकर सभा स्थल पर पंजीयन कराने तक की व्यवस्था पदाधिकारियों को दी गई है। कार्यक्रम स्थल पर सुबह 12 बजे से पंजीयन शुरू हो जाएगा। पंजीकृत कार्यकर्ताओं को ही सम्मेलन में शामिल होने की अनुमति दी जाएगी।
शाह का शहर के बाहर तीन स्थानों पर छत्तीसग़़ढी अंदाज में स्वागत होगा। एयरपोर्ट से निकले के बाद शाह का सबसे पहले फुंडहर में स्वागत होगा। इसके बाद वीआईपी तिराहा और तेलीबांधा थाने के सामने स्वागत किया जाएगा।
शाम को प्रदेश कार्यालय कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में विधायक, सांसद और पार्टी पदाधिकारियों की बैठक होगी। इसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रदेश में सरकार और संगठन की स्थिति पर चर्चा करेंगे। बताया जा रहा है कि शाम को बाबा रामदेव से भी मुलाकात हो सकती है।
अमित शाह शाम को एनएच गोयल स्कूल के कार्यक्रम नवसृजन में शामिल होंगे। इसमें मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और बाबा रामदेव भी शामिल होंगे। इस दौरान प्रतिभाशाली छात्रों के लिए छात्रवृत्ति की घोषणा होगी।


पत्नी को फांसी पर लटकाने वाले पति को दस वर्ष कैद

12 December 2014
बिलासपुर। दहेज के लिए पत्नी को प्रताडि़त करने और मारकर फांसी पर लटकाने वाले पति को अपर सत्र न्यायालय के चतुर्थ अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश एसएल नवरत्न ने गुरुवार को दस वर्ष के सश्रम कारावास की सजा सुनाई। इस मामले में दो महिला समेत पांच आरोपी फरार हैं।
पुराने बस स्टैंड के पास कश्यप कॉलोनी में राकेश आडवानी अपनी पत्नी सौम्या आडवानी को दहेज के लिए आए दिन प्रताडि़त करता था। इस प्रताडऩा में आरोपी के पिता मनोहर आडवानी, उसके भाई सुनील आडवानी, विनोद आडवानी, मां भावना आडवानी और जेठानी राधिका आडवानी शामिल हैं। 10 जून 2013 को सौम्या आडवानी दोपहर 4.20 संदिग्ध परिस्थितियों में घर में फांसी के फंदे पर झूलती मिली थी। इसकी रिपोर्ट सिटी कोतवाली थाने में मृतका के पिता ने दर्ज कराई थी।
सिटी कोतवाली पुलिस ने धारा 304, 34 के तहत जुर्म दर्ज किया था। इस घटना के बाद मृतका के पति राकेश आडवानी को छोड़कर सभी आरोपी फरार है। इस प्रकरण में अभियोजन की तरफ से 14 गवाह पेश किए गए। ज्यादातर गवाहों ने प्रताडऩा की पुष्टि की।


12 साल में नक्सल मोर्चे पर हम चार कदम आगे बढ़े हैं, रुकेंगे नहीं : रमन सिंह

12 December 2014
रायपुर । मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह 12 दिसंबर को अपनी सरकार के 11 साल पूरे कर लेंगे। इस मौके पर दैनिक भास्कर ने हर उस मुद्दे पर बात की जो इस समय सरकार को लेकर उठ रहे हैं। आलोचना, समालोचना और तारीफ के वे पहलू, जिनसे सरकार का सीधा वास्ता है। मुख्यमंत्री ने इनसे जुड़े सवालों पर सीधा जवाब दिया। उन्होंने नसबंदी कांड में हुई मौतों के लिए जहां चूक को स्वीकार किया वहीं नक्सल मामलों में अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति भी खुलकर सामने रखने से परहेज नहीं किया। उन्होंने दो टूक कहा-नक्सलियों से अब हम वहां लड़ रहे हैं जिस क्षेत्र को उन्होंने अपनी राजधानी बना लिया है। अगर हम लड़ेंगे तो नहीं तो वे बढ़ते जाएंगे। उनका दावा है-11 साल में हम नक्सल फ्रंट पर 4 कदम आगे बढ़े हैं। रुकेंगे नहीं।
अफसरों से घिरे होने के आरोपों पर उन्होंने बेलाग कहा-अफसर हमारे लिए काम करते हैं। कार्यपालिका में उनकी अपनी एक सीमा है। उसी सीमा में रहकर काम कर सकते हैं। वे सरकार और जनता के लिए जिम्मेदार हैं।

सवाल: आपकी सरकार को 11 साल हो गए, क्या सरकार और राज्य की दिशा सही है?

सीएम: देश का पिछड़ा राज्य माने जाने वाले छत्तीसगढ़ को आगे बढ़ाने के लिए सरकार संभालते ही पहले दिन से ही तय किया था। जिस क्षेत्रीय असंतुलन के कारण इस राज्य का निर्माण किया गया, उसको दूर करने का लक्ष्य तय किया। कई चुनौतियों के बीच तय किया कि प्रशासन की पहुंच नीचे तक होनी चाहिए। विकेंद्रीकरण की सिर्फ बातें ही न हों, वास्तव में विकेंद्रीकरण होना चाहिए। इसी कारण हमने 16 से बढ़ाकर 27 जिले कर दिए। गरीबों को ध्यान में रखा। सोशल सेक्टर पर प्राथमिकता से काम किया। 11 साल के बाद गर्व से कह सकता हूं कि छत्तीसगढ़ के साथ बने दो और राज्यों से यह राज्य कहीं आगे निकल गया है।

सवाल: कोई लक्ष्य तो तय किया होगा?

सीएम: अब हम केरल और गुजरात जैसे विकसित राज्यों से कंपीटिशन कर रहे हैं। उनकी बराबरी पर पहुंचना ही हमारा लक्ष्य है। आज छत्तीसगढ़ के पीडीएस को रोल मॉडल माना जा चुका है। 11 राज्य के सीएम इसे देखने आ चुके हैं। तीन और राज्य के सीएम आ रहे हैं। धान खरीदी में राज्य ने देश में सबसे ठोस इंतजाम किया है। जहां कमी है, उसे दूर करेंगे। हर पहलू पर सरकार काम कर रही है।


अमित शाह के स्वागत की जोरदार तैयारियां

11 December 2014
रायपुर। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के शुक्रवार को रायपुर आगमन पर छत्तीसगढ़ की कला और संस्कृति को पेश करने की तैयारी चल रही है।
भाजपा महिला मोर्चे की महिलाएं प्रांतीय परिधान में स्वामी विवेकानंद विमानतल पर आरती और पुष्पहार से स्वागत करेंगी।
अमित शाह का शहर में 11 स्थानों पर भव्य स्वागत की तैयारी चल रही है। इस स्वागत मंच पर छत्तीसगढ़ी कलाकारों का लोक नृत्य प्रस्तुत किया जाएगा। सभा स्थल को ब्रांड छत्तीसगढ़ की तर्ज पर सजाने की तैयारी चल रही है। इसका जिम्मा कार्यक्रम संयोजक और मंत्री राजेश मूणत को सौंपा गया है।


हमारे शहर में बच्चों को बेचने वाला गिरोह तो सक्रिय नहीं!

11 December 2014
भिलाई। खुर्सीपार के एक निजी स्कूल में पढऩे वाली नाबालिग को दो अनजान युवक बहला कर कोलकाता ले जाने के फिराक में थे। वे पावर हाऊस स्टेशन तक लड़की को लेकर वे पहुंच भी गए। वहां घर वालों को न पाकर बच्ची रोने लगी। स्टेशन में जीआरपी व आरपीएफ के जवान तैनात थे।
उनको देखकर बच्ची को ले जाने की कोशिश करने वाले बच्ची को छोड़कर भाग निकले। बच्ची के बैग की तलाशी में स्कूल का पता चला। स्कूल से घर का पता लगा कर आरपीएफ ने बच्ची के सकुशल घर पहुंचाया। स्टेशन पर मौजूद आरपीएफ के एएसआई एसके दुबे ने बताया कि उन्होंने बच्ची से पूछताछ की तो वह कुछ बोल नहीं पा रही थी। बैग की तलाशी लेने पर कापी में टीचर का नाम था।
यूनिफार्म के बेल्ट में निजी स्कूल का नाम था। स्कूल का नाम देखने के बाद वे बच्ची को लेकर खुर्सीपार स्थित स्कूल पहुंचे। स्कूल में बताया गया कि बच्ची उनके स्कूल की छात्र है। स्कूल से घर का पता लेकर लेकर बच्ची को उनके घर पहुंचाया गया। पूरी घटना जानकर बच्ची के माता पिता सकते में आ गए। उन्होंने आरपीएफ के एएसआई को इसके लिए धन्यवाद दिया।
बच्ची के पिता ने बताया कि उनकी बेटी खुर्सीपार के निजी स्कूल में पढऩे सुबह 11.45 बजे जाती है। सोमवार को भी दोपहर १२ बजे से पहले स्कूल के बाहर पहुंच गई थी। ऐसी घटना के बारे में कभी सोचा नहीं था।उन्होंने अपनी बच्ची से घटना के बारे में पूछा। बच्ची ने बताया कि उसे वेन में बैठाकर दो युवक कोलकाता ले जाने के लिए स्टेशन लेकर आए थे। स्टेशन पहुंचने के बाद वहां घर वाले नहीं दिखे तो मैं घबरा वह जोर जोर से रोने लगी।

आरपीएफ अलर्ट

शहर में बच्चों को बेचने वाला गिरोह सक्रिय होने की आशंका व्यक्त की जा रही है। इस घटना के बाद आरपीएफ भी अलर्ट है। बच्ची भागे युवकों का हुलिया ठीक से नहीं बता पा रही है, फिर भी दोनों युवकों की पतासाजी की जा रही है। इसकी सूचना पुलिस को भी दी गई है।


सीईओ डॉ. रमन करेंगे इलेक्ट्रानिक डैशबोर्ड से निगरानी और समीक्षा

11 December 2014
रायपुर. सरकार के 11 साल पूरे होने के बाद बचे हुए चार सालों में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह सही मायने में सीईओ होंगे। एक महीने के भीतर राज्य के 10 विभागों का पूरा डाटा तैयार हो जाएगा और उसके बाद मुख्यमंत्री हर सप्ताह इलेक्ट्रानिक डैश बोर्ड के जरिए विभागों के कामकाज की निगरानी व समीक्षा करेंगे। इन कामों की मानीटरिंग के लिए सरकार ने दुनिया की जानी-मानी कंपनी को कंसल्टेंट नियुक्त किया है। निजी कंसल्टेंट नियुक्त करने वाली छत्तीसगढ़ सरकार देश की पहली सरकार है। कंपनी ने साफ्टवेयर बनाने का काम प्रारंभ भी कर दिया है।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने दैनिक भास्कर से खास बातचीत में बताया कि हर विभाग का रिपोर्ट कार्ड (की परफारमेंस इंडेक्स ) तैयार किया जाएगा। पूरे सिस्टम को मुख्यमंत्री सचिवालय के मार्गदर्शन में चलाया जाएगा। इसमें चिप्स और निजी कंपनी के अधिकारी काम करेंगे। पूरे प्रोसेस में विभागों के कामकाज की दो स्तर पर समीक्षा होगी। पहली समीक्षा मुख्य सचिव करेंगे। वे विभागीय सचिवों से बात करेंगे। उसके बाद मुख्यमंत्री अपने मंत्रियों से बात कर हर विभाग को कसौटी पर कसेंगे। विभाग अगर बेंचमार्क के हिसाब से काम नहीं करेगा तो उसमें आवश्यक सुधार के लिए टाइम बाउंड कार्यक्रम दिया जाएगा।

कैसे होगा

विभाग में पिछले सप्ताह या पिछले महीने कामकाज कहां था और अब कहां है, यह देखने के लिए सीधे मुख्यमंत्री के पास इलेक्ट्रानिक डैश बोर्ड होगा। उसमें वे देखेंगे कि काम की प्रगति किस तरह हो रही है। उसके बाद संबंधित विभाग के मंत्री और अफसरों से बात करेंगे। उसी आधार पर मंत्रियों और विभागों के प्रमुख अफसरों का परफारमेंस तय किया जाएगा।

हर विभाग का काम करने के लिए लक्ष्य निर्धारित किया जाएगा

इस पूरे एक्सरसाइज में हर विभाग को काम करने का लक्ष्य दिया जाएगा, ठीक उसी तरह जिस प्रकार मार्केटिंग में टारगेट दिया जाता है। मसलन सिंचाई में राष्ट्रीय औसत से पीछे हैं तो राष्ट्रीय औसत के बराबर आने का लक्ष्य। अगर राष्ट्रीय औसत के बराबर हैं तो उसमें अव्वल आने का लक्ष्य। सड़कों का मापदंड हो या फिर पानी, बिजली का। सभी में इसी प्रकार काम किया जाएगा। अगर किसी में और बहुत अच्छा काम हो रहा है तो उसको आगे ले जाकर देश के लिए रोड मॉडल बनाने का लक्ष्य दिया जाएगा।

पहले कौन-कौन से विभाग

ऊर्जा, शिक्षा, स्वास्थ्य, नगरीय प्रशासन, कृषि, महिला एवं बाल विकास, पीडब्लूडी, जलसंसाधन, आवास एवं पर्यावरण, उद्योग।


छत्तीसगढ़ में दूसरे चरण के नामांकन आज से

10 December 2014
रायपुर। छत्तीसगढ़ में 103 नगरीय निकायों के लिए दूसरे चरण में होने वाले मतदान की प्रक्रिया बुधवार से शुरू होगी। इस दिन से नामांकन दाखिल किए जा सकेंगे। चुनाव प्रक्रिया 4 जनवरी तक चलेगी। इस दौरान 18 दिसंबर तक नामांकन दाखिल होंगे। 19 को जांच व 22 तक नाम वापसी होगी। 31 दिसंबर को मतदान के बाद 4 जनवरी को मतगणना व नतीजे घोषित किए जाएंगे।
इस चरण में 103 निकायों के लिए 9.69 लाख मतदाता 1631 वार्डो के लिए 1748 बूथ पर पहुंचेंगे। ये बीस नगर पािलकाओं व 83 नगर पंचायतों का नेतृत्व चुनेंगे।
प्रथम चरण के नामांकन दाखिल करने के दूसरे दिन तक ज्यादातर निकायों में निर्दलीय प्रत्याशियों ने फॉर्म खरीदे। कांग्रेस और भाजपा के उम्मीदवारों का नाम अभी तय नहीं हो पाया है। दोनों ही पार्टियों 12-13 दिसंबर तक नाम तय होने की उम्मीद है।


पुलिस ने किए फर्जी सप्लाई के संदेहियों के खाते सील

10 December 2014
जगदलपुर/कांकेर। जिला शिक्षा विभाग में हुए करोड़ों रुपए के घोटाले के मामले में पुलिस ने करीब आधा दर्जन खाते सील किए हैं, यह खाते उस समय विभाग में सप्लाई करने वाली फर्मो और मामले से जुड़े अन्य व्यक्तियों के हैं। इस संबंध में रविवार की रात पुलिस ने शहर की कुछ फर्म के संचालकों को भी कोतवाली में बुलाकर पूछताछ की है।
रविवार की देर शाम शहर के कुछ स्टेशनरी दुकान, फर्नीचर सहित आधा दर्जन से अधिक फर्मो के संचालकों को जांच टीम ने कोतवाली बुलाकर सप्लाई व भुगतान के संबंध में पूछताछ की। करीब दो घंटे की पूछताछ में पुलिस ने व्यापारियों से विभाग से हुए भुगतान की आर्डर कॉपी, बिल, भुगतान के दस्तावेज मांगे हैं साथ ही पुलिस उनके द्वारा सप्लाई किए गए माल को स्पॉट वेरिफिकेशन भी कर रही है।
दरअसल जिला शिक्षा विभाग में पूर्व शिक्षा अधिकारी एमआर खाण्डे द्वारा विभाग में स्टेशनरी व अन्य खरीदी के नाम पर किए गए पांच करोड़ रुपए से अधिक के घोटाले में पुलिस ने अभी तक मुख्य आरोपी सहित दो अन्य लोगों को गिरफ्तार किया है। मामले की जांच के लिए कोतवाली थाना प्रभारी की अध्यक्षता में एक टीम का गठन किया गया है जो मामले से जुड़े हुए लोगों से पूछताछ व संबंधित दस्तावेजों को इकठ्ठा कर रही है।

ब्लैक लिस्टेड फर्म को करोड़ों का भुगतान

खाण्डे के कार्यकाल के दौरान विभाग से भुगतान पाने वाले समस्त फर्म, पत्रकार सहित दो दर्जन से अधिक लोगों को पूछताछ के लिए पुलिस ने नोटिस जारी किया था, जिसके बाद पुलिस ने एक-एक व्यक्ति को बुलाकर उन्हें हुए भुगतान के बिल की कॉपी मांगा है। विभाग द्वारा ऐसी फार्मो को सप्लाई का आर्डर दिया गया जो राज्य शासन द्वारा ब्लैक लिस्टेड की जा चुकी हैं। इन फर्मो को दो या चार लाख की सप्लाई नहीं बल्कि करोड़ों रुपए सामान खरीदने के नाम पर भुगतान किया गया।

जिला शिक्षा कार्यालय में हुए करोड़ों रुपए के घोटाले के मामले में कुछ फर्मो के खाते सील किए गए हैं। पूछताछ के लिए कुछ व्यापारियों को भी बुलाया गया था।
मनीषा चंद्रा, कोतवाली थाना प्रभारी कांकेर


दिल्ली पहुंचा लोगों का आक्रोश, काबू करने पुलिस के छूटे पसीने

10 December 2014
दिल्‍ली /रायपुर। छत्तीसगढ़ में नसबंदी शिविर और जहरीली दवाइयों से मौतों के विरोध में प्रदेश कांग्रेस ने मंगलवार को नई दिल्ली में प्रधानमंत्री निवास का घेराव किया। अजीत जोगी, भूपेश बघेल, चरणदास महंत, रविन्द्र चौबे समेत कांग्रेस के तमाम बड़े नेताओं ने भाजपा सरकार की प्रतीकात्मक शव यात्रा भी निकाली। दिल्‍ली पुलिस को प्रदर्शनकारियों को रोकने में काफी मशक्कत करनी पड़ी । बुधवार को कांग्रेस नेता धान खरीदी और नक्सलवाद के मुद्दे पर जंतर-मंतर पर धरना और संसद मार्च करेंगे।

पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में दो नक्सली ढेर

09 December 2014
रायपुर। माओवादियों के पीएलजीए सप्ताह के अंतिम दिन बीजापुर जिले के गंगालूर थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम मुनगा के जंगल में सोमवार शाम नक्सलियों एवं पुलिस के बीच मुठभे़़ड हुई जिसमें दो नक्सली मारे गए और दो संदेहियों को हिरासत में लिया गया है। गंगालूर थाने से डीआरजी और एसटीएफ की संयुक्त पार्टी एरिया डॉमिनेशन के लिए रवाना हुई थी। ग्राम मुनगा के जंगल में देर शाम कापी संख्या में छिपे नक्सलियों ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी। दोनों ओर से करीब दो घंटे तक कई राउंड फायरिंग चली। इसके बाद मौके से दो नक्सलियों के शव बरामद किए गए। नक्सलियों ने फेंके पर्चे बस्तर जिले के दरभा घाटी इलाके में नक्सलियों ने सोमवार को काफी संख्या में पर्चे पेड़ों पर चस्पा किए हैं।
दरभा घाटी डिवीजनल कमेटी की ओर से प्रकाशित इस पर्चे में पीएलजीए सप्ताह को सफल बनाने तथा ग्रामीणों को पुलिस से दूरी बनाने की बात लिखी गई है। पुलिस ने कुछ स्थानों से पर्चे बरामद कर नष्ट कर दिए हैं।।


फर्जी जाति प्रमाण पत्र से ली नौकरी, शिक्षक को किया बर्खास्त

09 December 2014
कोरबा। फर्जी जाति प्रमाण पत्र के आधार पर शिक्षक की नौकरी करने वाले के मामले में सेवा समाप्ति की कार्रवाई की गई है। पिछड़ा जाति होते हुए अनुसूचित जाति वर्ग में नियुक्ति पा ली गई थी। उच्च स्तरीय छानबीन समिति से निर्णय के आधार पर जिला स्तरीय विभागीय समिति ने यह आदेश जारी किया है।
जांजगीर-चांपा जिले के कन्हैयालाल बरेठ पिता तनगूराम बरेठ को बिलासपुर में विशेष भर्ती अभियान के तहत अनुसूचित जाति वर्ग में शिक्षक के पद पर वर्ष १९९४ में दो वर्ष की परिवीक्षाधीन अवधि के लिए नियुक्ति दी गई थी। कन्हैयालाल, प्राथमिक शाला निमउकछार पोड़ीउपरोड़ा में पदस्थ था। इसे वर्ष २०१० में उच्च वर्ग शिक्षक के पद पर पदोन्नत करते हुए मल्दा के माध्यमिक शाला में पदस्थ किया गया।
अखिल भारतीय सतनामी युवा कल्याण समिति के प्रदेश अध्यक्ष मनीराम जांगड़े ने शिक्षक की जाति संबंधी शिकायत की थी। मार्च २०१४ में उच्च स्तरीय समिति आदिम जाति अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान रायपुर द्वारा छानबीन कराई गई। इस दौरान सामने आया कि भोपाल, रायसेन व सीहोर जिले के धोबी जाति को क्षेत्रीय बंधन के तहत् अनूसुचित जाति में मान्य है,लेकिन मध्यप्रदेश पुर्नगठन अधिनियम २००० के तहत सूची में धोबी जाति शामिल नहीं है।
जिला स्तरीय विभागीय समिति द्वारा मामले की सुनवाई कर एवं शिक्षक बरेठ को अपने बचाव में दस्तावेज प्रस्तुत करने का अवसर दिया गया। बरेठ सात अप्रैल को उपस्थित भी हुए लेकिन किसी प्रकार का दस्तावेज प्रस्तुत नहीं किया गया। कलक्टर कोरबा रीना कंगाले ने कन्हैयालाल बरेठ की सेवा समाप्ति करने का आदेश जारी कर दिया।

वेतन की रिकव्हरी नहीं

कन्हैयालाल बरेठ को बतौर वेतन प्रतिमाह ३८ हजार रुपए प्रतिमाह मिल रहा था। २१ जनवरी को रायपुर की उच्च स्तरीय समिति ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी थी। रिपोर्ट में फर्जी जाति प्रमाण पत्र के आधार पर नौकरी पाना पाया गया था। इस आदेश के बाद प्रशासनिक अफसरों को अंतिम जांच करने से लेकर सेवा समाप्ति कार्रवाई में १० माह का समय लग गया। बताया जा रहा है की दिए गए वेतन का अब तक रिक्वहरी नहीं की गई है।


रेडक्रॉस और बाजारों में खुलेआम बिक रहीं 24 कंपनियों की घटिया दवाईयां

09 December 2014
रायपुर । नसबंदी और जहरीली दवा से 20 लोगों की जान जाने के बाद भी सरकारी अमला लापरवाह बना दिखाई दे रहा है। जिन 24 कंपनियों की दवा को सरकार की एक एजेंसी छत्तीसगढ़ स्टेट मेडिकल सर्विसेज कॉरपोरेशन (सीजीएमएससी) ने स्तरहीन करार दिया, वही दवाएं रेडक्रॉस जैसी दूसरी संस्था में खुलेआम बिक रही है। बाजार में भी यह उपलब्ध है। ये दवाइयां गुड्स मैन्यूफेक्चरिंग एंड प्रैक्टिस सर्टिफिकेट (जीएमपी)के आधार पर खरीदी जाती है, जो राज्य का ही खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग जारी करता है। इसके बावजूद स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि वह इनकी बिक्री नहीं रोक सकता। ​

बिक्री नहीं रोक सकते: स्वास्थ्य विभाग

अमानक क्यों?
टेक्निकल स्टाफ की कमी
मैन्युफैक्चरिंग सही तापमान में नहीं
रिकॉर्ड का सही रखरखाव नहीं
मैन्युफैक्चरिंग बताकर री-पैकिंग करना
क्या होना था?

मॉनीटरिंग स्टाफ के पास फार्मेसी की डिग्री होनी चाहिए, नहीं थी ।
साफ-सफाई, भवन, मेटेरियल की गुणवत्ता का ध्यान रखना चाहिए था।
दवाइयों की जांच, लैब के उपकरण, बनने और सप्लाई का रिकॉर्ड रखना होता है।
दवाइयों पर मैन्युफैक्चरिंग, मार्केटिंग, रिपैकिंग की सही जानकारी दी जानी चाहिए।


नक्सल हमले के बाद बंद हो गया था सैटेलाइट ट्रैकर

08 December 2014
रायपुर। सुकमा में नक्सली हमले के समय सीआरपीएफ की टुकड़ी का सैटेलाइट ट्रैकर बंद हो गया था। सीआरपीएफ की जांच में पाया गया कि चिंतागुफा से दस किलोमीटर दूर कसलनार के पास नक्सलियों ने जिस पार्टी पर घात लगाकर हमला किया, उसका सैटेलाइट ट्रैकर दोपहर 12.20 बजे के बाद बंद हो गया। पार्टी में शामिल जवानों से पूछताछ की जा रही है कि आखिर सैटेलाइट ट्रैकर बंद कैसे हो गया? इसके साथ ही यूबीजीएल और अन्य हथियार लूटने की रिपोर्ट भी तैयार की गई है, जिसे सोमवार को गृह मंत्रालय को सौंपा जाएगा। सीआरपीएफ के डीजी ने कोर्ट आफ इन्क्वायरी की घोषणा की है। इसके लिए सीआरपीएफ के आला अधिकारियों ने रविवार को रिपोर्ट को अंतिम रूप दिया।
सीआरपीएफ के आला अधिकारियों के अनुसार 29 नवम्बर को गोरगु़़डा, पोलमपल्ली, कांकेरलंका, पुसवा़़डा, तेमेलवा़़डा, चिंतागुफा, बुरकापाल, चितंलनार, भेज्जी के सीआरपीएफ, कोबरा व जिला पुलिस बल के जवान सर्चिग ऑपरेशन के लिए अलग-अलग जगहों से निकले थे। सर्चिग पार्टी को सोमवार शाम चिंतलनार पहुंचना था। कांकेरलंका व चिंतागुफा से निकली हुई पार्टी के साथ नक्सलियों की मुठभे़़ड हुई। मुठभे़़ड की जगह से कुछ दूरी पर सीआरपीएफ के आईजी एचएस सिद्धू की पार्टी थी। पार्टी ने सैटेलाइट कम्यूनिकेशन टूटने के बाद सिद्धू की पार्टी पीछे की ओर लौटी। वह भी रास्ता भटक कर आगे की ओर चली गई थी। बाद में लगभग एक बजकर 20 मिनट पर सिद्धू की पार्टी घटनास्थल के पास पहुंची। यह पार्टी 13 शहीद जवान, 14 घायल और दस मलेरिया से पी़ि़डत जवानों को लेकर चिंतागुफा पहुंची।

शहीदों के परिजनों को पहला चेक जारी

सीआरपीएफ के आला अधिकारियों के अनुसार शहीद जवानों के परिजनों के लिए 21 लाख पए का पहला चेक जारी कर दिया गया है। इसमें 20 लाख पए रिस्क फंड से और एक लाख पए सेंट्रल वेलफेयर फंड से दिया जा रहा है। परिजनों को सीआरपीएफ की ओर से 61 लाख पए दिए जाएंगे। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने छत्तीसगढ़ के दौरे के समय 38 लाख पए देने की घोषणा की थी। राज्य पुलिस के आला अधिकारियों के अनुसार, नक्सली हमले में शहीद होने वाले पुलिस बल के जवानों को 28 लाख पए दिए जाते हैं। इसमें 25 लाख पए स्पेशल इंश्योरेंस और तीन लाख पए एक्सग्रेसिया दिया जाता है।

गृहमंत्रालय को सौंपेंगे प्रस्ताव

सीआरपीएफ के आला अधिकारियों के अनुसार बस्तर में सुविधा बढ़ाने का प्रस्ताव गृह मंत्रालय को सौंपा जाएगा। इसमें नाइट लैंडिंग डिवाइस, ज्यादा जवानों की तैनाती की मांग की जाएगी। गृह मंत्रालय की सोमवार को होने वाली बैठक में जवानों के शहीद होने पर मिलने वाली राशि को बढ़ाकर एक करोड़ करने का प्रस्ताव दिया जाएगा। इसके साथ ही शहीद जवानों के परिजनों को उसी पद पर नियुक्ति देने का भी प्रस्ताव तैयार किया गया है।


नशीला पेड़ा खिलाया, फिर रुपए लेकर फरार

08 December 2014
बिलासपुर/अंबिकापुर। राम मंदिर के समीप स्थित एक कपड़ा व्यवसायी को नशीला प्रसाद खिलाकर एक युवक गल्ले में रखे रुपए को लेकर फरार हो गया। व्यवसायी की स्थिति गम्भीर होने पर उसे रायपुर रेफर किया गया है। परिजन द्वारा मामले की लिखित शिकायत थाने में की गई है।
जानकारी के अनुसार राममंदिर के समीप रतिराम ताराचंद क्लाथ स्टोर स्थित है। दुकान के संचालक सुनील अग्रवाल शुक्रवार को दुकान में बैठे हुए थे। इसी दौरान एक युवक दुकान में आया और उसने अपने आप को नमनाकला निवासी अभिषेक सिंह बताया और उनसे दुकान में काम करने की बात कही। सुनील अग्रवाल ने युवक को शनिवार की सुबह १० बजे दुकान में आकर काम करने को कहा।
युवक शनिवार की सुबह दुकान में पहुंचा और सुनील अग्रवाल को कहा कि उसे महामाया जाना है। दुकान संचालक ने युवक से पूछा कि अभी तो काम पर आए हो और तुरंत जाने की बात कह रहे हो। इस पर युवक ने अपनी मन्नत का हवाला देते हुए महामाया जाने को निकल गया। थोड़ी देर बाद लगभग साढ़े ११ बजे युवक वापस दुकान में लौटा और सुनील अग्रवाल को महामाया के प्रसाद के रूप में पेड़ा दिया।
युवक ने पेड़ा में नशीला पदार्थ मिलाकर व्यवसायी को दे दिया था। पेड़ा खाने के थोड़ी देर बाद सुनील अग्रवाल बैहोश हो गए। इसके बाद युवक दुकान के गल्ले में रखे रुपए को लेकर फरार हो गया। लगभग ढाई बजे सुनील अग्रवाल को होश आया तो वे किसी तरह दुकान से बाहर निकले और इसकी सूचना अपने पड़ोसियों को दी।
पड़ोसियों ने व्यवसायी की स्थिति गम्भीर होने की वजह से उन्हें तत्काल मिशन अस्पताल ले गए। मिशन अस्पताल में चिकित्सकों ने सुनील की स्थिति देखते हुए उन्हें रायपुर भेज दिया। युवक ने काम पर लगने के पूर्व कपड़ा व्यवसायी को दो मोबाइल नम्बर भी दिया था, जिसमें से एक नम्बर अपना और एक नम्बर अपने पिता का बताया था।
लोगों ने एक नम्बर पर सम्पर्क भी किया, लेकिन वह नम्बर वाड्रफनगर के किसी पीसीओ का निकला। दूसरा मोबाइल नम्बर भी बंद मिला। पुलिस आगे की कार्रवाई के लिए व्यवसायी के ठीक होने का इंतजार कर रही है।


कांग्रेस जिला चुनाव समिति की बैठक में विवाद

08 December 2014
रायपुर। कांग्रेस में महापौर और पार्षदों की दावेदारी पर मंथन करने बैठे नेता आपस में ही उलझ गए। बड़ी वजह यह थी कि जो महापौर के टिकट के दावेदार हैं, वहीं जिला चुनाव समिति में भी बैठे थे। रायपुर नगर निगम के लिए शहर जिला कांग्रेस चुनाव समिति में महापौर के लिए लगभग 20 दावेदार हैं। इनमें से आधे दावेदार चुनाव समिति की बैठक में थे।
कांग्रेस भवन में रविवार चार घंटे चली बैठक में प्रभारी महामंत्री बदरुद्दीन कुरैशी मौजूद थे। महापौर के लिए नामों पर चर्चा हो रही थी। तब पूर्व विधायक कुलदीप जुनेजा ने कहा कि जिन लोगों ने विधानसभा चुनाव में पार्टी का काम नहीं किया, उन्हें नहीं टिकट दिया जाना चाहिए।
यहां मेरे समेत शहर के तीनों प्रत्याशी किरणमयी नायक, विकास उपाध्याय बैठे हैं। सभी जानते हैं किसने भीतरघात किया। उनके नाम पर विचार ही नहीं होना चाहिए। इस पर पूर्व पार्षद आनंद कुकरेजा ने कहा कि विधानसभा चुनाव में जिन्हें प्रत्याशी बनाया गया था, वे लोगों से कहते फिर रहे थे कि वो कांग्रेस पार्टी को नहीं, मुझे देखकर वोट दें। दोनों के बीच वाद-विवाद की स्थिति बन गई। वरिष्ठ नेताओं ने उन्हें बिठाया। अरुण भद्रा ने कहा कि बैठक में पार्षद के लिए कुछ दावेदार भी हैं, वे बाहर चले जाएं तभी खुलकर चर्चा हो सकेगी।
अंत में महापौर के लिए पार्टी हाईकमान को अधिकृत करने का प्रस्ताव लाया गया, लेकिन इस पर सहमति नहीं बनी। लिहाजा प्रदेश चुनाव समिति को सभी दावेदारों के नाम भेजने का निर्णय लिया गया।


एटीएम में चाबी छोड़ चले गए कर्मचारी

06 December 2014
महासमुंद/सरायपाली। बस स्टैंड के पास स्थित एटीएम मशीन में पैसा डालने के बाद कर्मचारियों ने उसकी चाबी मशीन में ही छोड़कर चले गए।
भाजयुमो के अमित आहूजा जब एटीएम मशीन रकम आहरित करने गए, तो चॉबी देखी। आसपास उन्होंने कर्मचारियों को तलाश भी किया, लेकिन नहीं मिले। इसके बाद उन्होंने इसकी सूचना स्थानीय आरक्षी केन्द्र में दी और थाना प्रभारी केबी द्विवेदी को चॉबी सौंप दी। इस संबंध में भारतीय स्टेट बैंक के बनर्जी से संपर्क किया गया, तो उन्होंने बताया कि चाबी भूल जाने से संबंधित जानकारी उन्हें भी मिली है।
एटीएम मशीन में पैसा डालने का काम प्रायवेट एंजेसी द्वारा किया जाता है, जो भारतीय स्टेट बैंक सारंगढ़ से ताल्लुक रखते हैं। बैंक प्रबंधन के मुताबिक सारंगढ़ शाखा प्रबंधक को इस संबंध में अवगत करा दिया है।


माओवादियों ने जलाए ग्रामीणों के राशन कार्ड

06 December 2014
जगदलपुर/बीजापुर। सुकमा के कसालपाड़ में हुई घटना के बाद माओवादी एक बार फिर अपनी जमीन तलाशने में जुट गए हैं। यही कारण है कि इस घटना के बाद अब गंगालूर इलाके में भी यह बात सामने आ रही हे कि माओवादियों ने सरकारी राशन नहीं उठाने ग्रामीणों से कहा है। यही नहीं माओवादियों ने अपनी बौखलाहट के चलते कुछ ग्रामीण जो राशन लेने पहुंचे थे उनके राशन कार्ड को भी फूंक डाला।
माओवादी एक बार फिर भय का माहौल बनाना चाह रहे हैं जिसका असर इलाके में दिख रहा है। हाल ही में गंगालूर इलाके के साप्ताहिक बाजार में भी रौनक नहीं रही। बाजार में सन्नाटा था और सोसाइटी में राशन के लिए इक्का- दुक्का ग्रामीण छिपते छिपाते पहुंचते नजर आ रहे हैं। इस बात का प्रमाण सरकारी स्टाक में जमा राशन को देखकर आसानी से लगाया जा सकता है कि ग्रामीण राशन लेने नहीं आ रहे हैं। माओवादियों ने अपने फरमान में कहा है कि ग्रामीण किसी भी सरकारी योजना का लाभ न लें। साप्ताहिक बाजार व थानों से लगे इलाकों में जाने के लिए भी माओवादियों ने मनाही कर रखी है। ऐसी स्थिति बनने से ग्रामीणों के लिए परेशानी खड़ी हो चुकी है।

आधे से अधिक राशन दुकान में ताला

ग्रामीणों के नहीं आने के चलते गंगालूर क्षेत्र के आधा से ज्यादा सोसायटी बंद रहे। इस पर सोसायटी संचालक भी किसी तर की प्रतिक्रिया देने से बचते रहे। इस बीच ग्रामीण दबी जुबान से माओवादियों के फरमान का खुलासा कर रहे हैं। पुलिस प्रशासन को माओवादियों के इस फरमान की जानकारी पहले से ही है। लेकिन इसका असर अब खुलकर दिख रहा है। हालांकि कुसालपाड़ की घटना के बाद पुलिस ने जिले में रेडअलर्ट जारी किया है। अधिकारियों का मानना है कि यदि ग्रामीण सामने आएंगे तो उन्हें पूरी सुरक्षा और सरकारी योजनाओं का पूर्ण लाभ दिया जाएगा। वर्तमान में गंगालूर सहित अंदरुनी इलाकों में ऐसी स्थिति सामने आ रही है।

मिली है जानकारी

माओवादियों गंगालूर इलाका ही नही अन्दरूनी इलाकों में भी सरकार के खिलाफ फरमान जारी किया है। जानकारी मिली है कि ग्रामीणों के राशन कार्ड को छीनकर उन्होंने आग के हवाले भी किया है।
केएल धु्रव, एसपी, बीजापुर
-शेख इस्लामुद्दीन


ईओडब्लू और एसीबी में 26 पुलिस अफसर आए प्रतिनियुक्ति पर

06 December 2014
रायपुर। एडीजी मुकेश गुप्ता की पहल पर गृह विभाग ने पहली बार 26 पुलिस अफसरों की पदस्थापना एंटी करप्शन ब्यूरो और ईओडब्लू में की है।
विभाग का चार्ज संभालने के बाद एडीजी गुप्ता ने गृह विभाग के आला अफसरों को अमले की कमी का हवाला देने के साथ ही अपनी नई टीम के गठन को लेकर अवगत कराया था। उनकी मांग पर बलौदाबाजार, भिलाई, महासमुंद, धमतरी और जांजगीर-चांपा और कोंडागांव के विभिन्न शाखाओं में पदस्थ अफसरों को प्रतिनियुक्ति पर भेजा गया है। फिलहाल गृह विभाग ने 6 उपपुलिस अधीक्षक, 16 निरीक्षक और 4 उपनिरीक्षकों को पदस्थ किया है। इस टीम में पुलिस मुख्यालय के विशेष शाखा में पदस्थ कर्मचारियों को जिम्मेदारी दी गई है।

इन अफसरों को मिली प्रतिनियुक्ति

शोएब अहमद खान, विश्वास चंद्राकर, एएस परिहार, विजय कटरे, विरेन्द्र सतपथी, अशोक जोशी ( सभी डीएसपी ) रामकृष्ण दुबे, नवनीत पाटिल, नरेन्द्र सिंह बंछोर, लंबोदर पटेल, सत्यप्रकाश तिवारी, बिृजेश तिवारी, चंद्रशेखर धु्रव, संजय दिनकर देवस्थले, मोहम्मद फरहार कुरैशी, एलवर्ट कुजूर, प्रमोद कुमार खेस, वैजयंतीमाला तिग्गा, पूर्णिमा लामा अब्दुल कादिर खान, नरसिंह राम, जीवन प्रकाश ( सभी निरीक्षक ) नरेन्द्र कुमार मिश्रा, जनकलाल साहू , रविशंकर तिवारी,आरएन सेंगर ( सभी निरीक्षक )।


कांग्रेस का 9 को प्रधानमंत्री निवास घेराव, 10 को संसद मार्च

05 December 2014
रायपुर। प्रदेश कांग्रेस कमेटी 9 दिसंबर को दिल्ली में प्रधानमंत्री निवास का घेराव करेगी। वहीं 10 दिसंबर को जंतर-मंतर में धरना देने के बाद संसद मार्च किया जाएगा।
इस प्रदर्शन के जरिए कांग्रेस नसबंदी कांड में दोषियों पर कार्रवाई के साथ ही मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह और स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल के इस्तीफे की मांग करेगी। इसके अलावा संसद मार्च के दौरान समर्थन मूल्य 2100 रुपए में धान खरीदी करने की मांग की जाएगी। यह फैसला प्रदेश कांग्रेस की बैठक में लिया गया। प्रधानमंत्री निवास का घेराव करने के लिए कांग्रेस कार्यकर्ता कांग्रेस मुख्यालय से निकलेंगे। वहीं जंतर-मंतर में धरना प्रदर्शन के बाद 3 बजे संसद मार्च किया जाएगा।
कांग्रेस पदाधिकारियों की गुरुवार को कांग्रेस भवन में महत्वपूर्ण बैठक हुई। इसमें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल और नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव सहित पदाधिकारी मौजूद थे। बैठक में पदाधिकारियों से चर्चा कर राय ली गई। वहीं पदाधिकारियों को अलग-अलग जिम्मेदारी दी गई। पार्टी सूत्रों के मुताबिक सभी जिलाध्यक्षों और प्रदेश पदाधिकारियों को दिल्ली में होने वाले प्रदर्शन में भीड़ जुटाने और सभी कांग्रेसियों को शामिल होने को कहा गया। बताया जा रहा है कि विधायकों को भी इस प्रदर्शन में मौजूद रहने की हिदायत दी गई है। फिलहाल कांग्रेस, प्रधानमंत्री निवास घेराव और संसद मार्च की तैयारी में जुट गई है।

राष्ट्रीय पदाधिकारी भी शामिल

दिल्ली में प्रधानमंत्री निवास घेराव और संसद मार्च में प्रदेश के दिग्गज नेताओं के साथ ही पदाधिकारी मौजूद रहेंगे। इसके अलावा राष्ट्रीय पदाधिकारी शामिल होंगे। इसमें राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष मोतीलाल वोरा, राज्यसभा सांसद मोहसिना किदवई, प्रदेश प्रभारी बीके हरिप्रसाद, प्रभारी सचिव भक्त चरणदास सहित कुछ और पदाधिकारी के शामिल होने की संभावना है।

कोर्ट भी जाएंगे

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा कि नसबंदी कांड और जहरीली दवाइयों के विरोध में प्रधानमंत्री निवास का घेराव किया जाएगा। इसी तरह धान खरीदी, नक्सली हमले में जवानों की शहादत, शहीद जवानों की वर्दी कचरे के ढेर में फेंकने सहित कई मुद्दों को लेकर संसद मार्च किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के प्रदर्शन के बाद भी मांगे पूरी नहीं हुई तो कोर्ट जाएंगे। बघेल ने कहा कि धान खरीदी मंडी एक्ट के तहत किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर दोषी व्यक्ति और अधिकारियों पर एफआईआर भी दर्ज कराई जाएगी।

कांग्रेस का निर्णय

9 दिसंबर-दिल्ली में प्रधानमंत्री निवास का घेराव
10 दिसंबर-जंतर मंतर में धरना प्रदर्शन एवं संसद मार्च
14 दिसंबर से -सभीं धान खरीदी केन्द्र में सत्याग्रह
19 दिसंबर-प्रदेश भर में रेल रोको आंदोलन।


दहेज प्रताडऩा मामले में तीन पर जुर्म दर्ज

05 December 2014
महासमुंद। तेंदूकोना थानांतर्गत ग्राम साल्हेभाठा में एक नवविवाहिता ने दहेज प्रताडि़त के चलते फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। इस मामले में तीन लोगों के खिलाफ अपराध दर्ज किया है।
ुलिस से मिली जानकारी के अनुसार ग्राम साल्हेभाठा निवासी गौकरण साहू की शादी लक्ष्मी उर्फ राधिका के साथ 7 माह पहले 21 अप्रैल 2014 को हुई थी। शादी के बाद ससुराल वालों ने दहेज के लिए शारीरिक, मानसिक रूप से प्रताडि़त करने लगा। इससे तंग आकर राधिका ने 15 नवंबर को फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। 3 दिसंबर को राजेंद्र गेंदले की रिपोर्ट पर पुलिस तेंदूकोना पुलिस ने पति गौकरण साहू, ससुर हंसराम साहू एवं सास गिरजा साहू के विरूद्ध धारा 305 बी 34 के तहत अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया।


नगरीय निकाय चुनाव पर लगा स्टे सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिज

05 December 2014
रायपुर। नगरीय निकाय चुनाव पर छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाते हुए गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने स्टे खारिज कर दिया है। परिसीमन मामले को लेकर रायपुर के दो पार्षदों ने हाई कोर्ट में याचिका लगाई थी, जिस पर सुनवाई करते हुए 14 नवंबर को जज टीपी शर्मा और इंदर उबोवोजा की युगलपीठ ने स्टे का आदेश जारी कर दिया था। इस निर्णय के खिलाफ पिछले दिनों कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एचएल दत्तु की बेंच ने गुरुवार को यह फैसला सुनाया।

अब आगे क्या :

राज्य निर्वाचन आयोग ने प्रदेश के नगरीय निकायों के लिए 8 दिसम्बर और 11 नवम्बर को वोटिंग की तिथि तय की थी। मतगणना 15 दिसम्बर को होनी थी। स्टे के बाद से नामांकन की प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई थी। विशेषज्ञों के मुताबिक स्टे हटने के बाद भी पुरानी तिथियों पर यह चुनाव नहीं हो पाएगा। इसकी वजह यह है कि प्रत्याशियों के नामांकन ही तय नहीं हो पाए हैं, नामांकन के बाद प्रत्याशियों को चुनाव प्रचार करने के लिए भी समय चाहिए होता है।

चुनाव का किसे फायदा, किसे नुकसान

नसबंदी चुनाव, नक्सली हमले से घिरी भाजपा सरकार के लिए नगरीय निकाय चुनावों पर स्टे एक राहत की तरह है, लेकिन कांग्रेस इस मौके का पूरा फायदा उठाना चाहती है। विधानसभा चुनाव और उसके बाद लोकसभा चुनाव के बाद पहली बार यह मौका है जबकि कांग्रेस के पास हमला करने के लिए पर्याप्त मुद‌दे हैं। ऐसे समय में यदि चुनाव होते हैं तो वह फायदे में आ सकती है और प्रदेश में कमजोर पड़ी कांग्रेस को एक संजीवनी मिल सकती है। इसलिए कांग्रेस चाहती है निकाय चुनाव जल्द से जल्द हो, जबकि परिसीमन के जिस मामले पर हाईकोर्ट ने स्टे लगाया था, वह याचिका कांग्रेस पार्षदों की ओर से ही लगाई गई थी।

क्या था मामला'

रायपुर के पार्षद ज्ञानेश शर्मा और जगदीश आहूजा ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी कि रायपुर नगर निगम में 2001 की जनगणना के आधार पर ही चुनाव करवाने की तैयारी चल रही है, जबकि यहां की जनसंख्या 25 प्रतिशत बढ़ गई है। यहां आबादी के हिसाब से परिसीमन नहीं किया गया है। इस वजह से किसी वार्ड की जनसंख्या सात हजार है तो किसी में 35 हजार। इस पर हाइकोर्ट ने 14 नवंबर को फैसला सुनाते हुए परिसीमन होते तक चुनाव पर रोक लगा दी थी।


नक्सलियों के क्रॉसिंग पॉइंट पर जवान करेंगे वार

04 December 2014
रायपुर। सुकमा में नक्सली हमले के बाद सीआरपीएफ और पुलिस के आला अधिकारियों की बीच हुई बैठक में नक्सल अभियान की रणनीति पर मंथन हुआ। इसमें तय किया गया कि बस्तर के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में मानव रहित विमान [यूएवी] से सर्चिग तेज की जाएगी। नक्सल प्रभावित क्षेत्र में एरिया डॉमिनेशन के बाद तत्काल नए कैंप खोलने की तैयारी की गई है। हर दस किलोमीटर पर एक कैंप खोलने का निर्देश दिया गया है। नक्सलियों के क्रॉसिंग पॉइंट को तो़़डने के लिए विशेष अभियान चलाने की तैयारी है। आंध्रप्रदेश, ओडिशा और महाराष्ट्र सीमा से लगे नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में संयुक्त अभियान चलाने पर भी मंथन किया गया। इसके साथ ही नक्सल मोर्चे पर ज्यादा जवानों की तैनाती और नए हेलीकॉप्टर भी मिलेंगे।
पुलिस मुख्यालय के उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार, नक्सल अभियान में जुटे जवानों को सबसे ज्यादा दिक्कत आपस में संपर्क स्थापित करने में हो रही है। मोबाइल नेटवर्क नहीं होने के कारण संपर्क के लिए सेटेलाइट फोन पर निर्भर होना प़़डता है। केंद्र सरकार को 20 और सेटेलाइट फोन के लाइसेंस के लिए दो महीने पहले प्रस्ताव भेजा गया था, लेकिन अब तक लाइसेंस जारी नहीं हुआ है। प्रदेश के आला अधिकारियों ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह की बैठक में इसकी जानकारी दी है। बस्तर में आसमान से नक्सलियों पर नजर रखने के लिए मानवरहित विमान ड्रोन का इस्तेमाल किया जा रहा है, लेकिन इसका बेस सेंटर हैदराबाद एवं भिलाई होने से यह सही समय पर नक्सलियों की सूचना देने में सफल नहीं हो पा रहा है। पुलिस मुख्यालय के आला अधिकारियों के अनुसार, ड्रोन का बेस सेंटर बस्तर में बनाने के लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा गया है। केन्द्रीय गृहमंत्री के साथ हुई बैठक में भी ड्रोन को लेकर चर्चा हुई है। अधिकारियों ने बताया कि भिलाई से बस्तर की दूरी 300 किमी होने के कारण भी फौरन ड्रोन की सेवाएं मिलना मुमकिन नहीं है।

दस जवानों को हुआ था मलेरिया

सुकमा में हुए नक्सली हमले में मारे गए और घायल जवानों में से दस को मलेरिया हुआ था। पुलिस मुख्यालय के सूत्रों के अनुसार, सीआरपीएफ के जवानों पर जब नक्सलियों ने गोलीबारी शुरू की, उस समय दस जवान मलेरिया से पी़ि़डत थे। सीआरपीएफ के आईजी एचएस सिद्धू पास की दूसरी टुक़़डी का नेतृत्व कर रहे थे। जैसे ही नक्सलियों की गोलीबारी की सूचना मिली, तो सिद्धू की टीम मौके पर पहुंची, लेकिन तब तक 14 जवान शहीद हो चुके थे।

एक महीने में खुले चार कैंप

पुलिस ने एक महीने में चार नए कैंप खोले हैं। इनमें डोमीकला, धर्मापेंटा, पुष्पाल और तुंगनार शामिल है। डोमीकला राजनांदगांव में सीतागांव और औंधी के बीच है। धार्मापेंट क्रिस्टाराम और आंध्रप्रदेश बार्डर को जो़़डने का काम कर रहा है। इस कैंप की चारो तरफ नक्सलियों ने आईईडी लगा दिया है और मंगलवार से लगातार गोलीबारी कर रहे हैं। पुष्पाल सुकमा को ओडिशा बार्डर से जोड़ने का काम कर रहा है। यह कैंप तोंगपाल थाने से दस किलोमीटर दूर है। तुंगनार गीदम को बीजापुर रोड से जो़़ड रहा है। इन चारों कैंप के खुलने से नक्सलियों के क्रॉसिंग पॉइंट खत्म हुए हैं।


हाईकोर्ट ने राज्य शासन से पूछा-आखिर डॉक्टर पर क्या है आरोप

04 December 2014
बिलासपुर। नसबंदी कांड में गलत ऑपरेशन के आरोप में बर्खास्त और गिरफ्तार डॉ. आर.के. गुप्ता की जमानत याचिका पर होईकोर्ट में बुधवार को सुनवाई हुई।
सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने सरकारी वकील से पूछा कि डॉक्टर पर आखिर क्या आरोप है? शासन की ओर से नसबंदी में लापरवाही के कारण कार्रवाई की जानकारी दी। दोनों पक्षों के तर्क सुनने के बाद कोर्ट ने फैसला सुरक्षित कर दिया। मामले में गुरुवार को फैसला आने की संभावना है।

फोरेंसिक रिपोर्ट प्रस्तुत किया

इससे पहले हाईकोर्ट में डॉ. गुप्ता की ओर से उनके वकील ने दिल्ली, कोलकाता, नागपुर की फोरेंसिक रिपोर्ट प्रस्तुत कर कहा कि तीनों ही रिपोर्ट से यह पता चल रहा है कि दवा में चूहामार कैमिकल जिंक फास्फेट सहित अन्य जहरीले तत्व थे। मरीज और उनके परिजन के बयान से भी यह बात सामने आई है कि दवा खाने के बाद ही तबीयत खराब हुई। सुनवाई के दौरान वकील ने उस घटनाक्रम का भी उल्लेख किया, जिसके अनुसार नसबंदी के अलावा सामान्य बीमारियों से पीडि़त जिन लोगों ने सिप्रोसिन खाई, उनमें से कुछ की मौत हुई या फिर वे बीमार पड़ गए।


नगरीय निकाय चुनाव पर लगा स्टे सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिज

04 December 2014
रायपुर। नगरीय निकाय चुनाव पर छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाते हुए गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने स्टे खारिज कर दिया है। परिसीमन मामले को लेकर रायपुर के दो पार्षदों ने हाई कोर्ट में याचिका लगाई थी, जिस पर सुनवाई करते हुए 14 नवंबर को जज टीपी शर्मा और इंदर उबोवोजा की युगलपीठ ने स्टे का आदेश जारी कर दिया था। इस निर्णय के खिलाफ पिछले दिनों कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एचएल दत्तु की बेंच ने गुरुवार को यह फैसला सुनाया।

अब आगे क्या :

राज्य निर्वाचन आयोग ने प्रदेश के नगरीय निकायों के लिए 8 दिसम्बर और 11 नवम्बर को वोटिंग की तिथि तय की थी। मतगणना 15 दिसम्बर को होनी थी। स्टे के बाद से नामांकन की प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई थी। विशेषज्ञों के मुताबिक स्टे हटने के बाद भी पुरानी तिथियों पर यह चुनाव नहीं हो पाएगा। इसकी वजह यह है कि प्रत्याशियों के नामांकन ही तय नहीं हो पाए हैं, नामांकन के बाद प्रत्याशियों को चुनाव प्रचार करने के लिए भी समय चाहिए होता है।
चुनाव का किसे फायदा, किसे नुकसान
नसबंदी चुनाव, नक्सली हमले से घिरी भाजपा सरकार के लिए नगरीय निकाय चुनावों पर स्टे एक राहत की तरह है, लेकिन कांग्रेस इस मौके का पूरा फायदा उठाना चाहती है। विधानसभा चुनाव और उसके बाद लोकसभा चुनाव के बाद पहली बार यह मौका है जबकि कांग्रेस के पास हमला करने के लिए पर्याप्त मुद‌दे हैं। ऐसे समय में यदि चुनाव होते हैं तो वह फायदे में आ सकती है और प्रदेश में कमजोर पड़ी कांग्रेस को एक संजीवनी मिल सकती है। इसलिए कांग्रेस चाहती है निकाय चुनाव जल्द से जल्द हो, जबकि परिसीमन के जिस मामले पर हाईकोर्ट ने स्टे लगाया था, वह याचिका कांग्रेस पार्षदों की ओर से ही लगाई गई थी।

क्या था मामला

रायपुर के पार्षद ज्ञानेश शर्मा और जगदीश आहूजा ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी कि रायपुर नगर निगम में 2001 की जनगणना के आधार पर ही चुनाव करवाने की तैयारी चल रही है, जबकि यहां की जनसंख्या 25 प्रतिशत बढ़ गई है। यहां आबादी के हिसाब से परिसीमन नहीं किया गया है। इस वजह से किसी वार्ड की जनसंख्या सात हजार है तो किसी में 35 हजार। इस पर हाइकोर्ट ने 14 नवंबर को फैसला सुनाते हुए परिसीमन होते तक चुनाव पर रोक लगा दी थी।


नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई जारी रहेगी: राजनाथ

03 December 2014
रायपुर। सुकमा में हुए नक्सली हमले के बाद छत्तीसगढ़ के दौरे पर आए केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने साफ कर दिया कि नक्सलियों के खिलाफ जारी लड़ाई अब केगी नहीं। शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देने के बाद माना स्थित चौथी बटालियन परिसर में मंगलवार शाम को पत्रकारों से चर्चा में राजनाथ सिंह ने कहा कि वार से ज्यादा खतरनाक प्राक्सीवार है। जवान खुले में जंग लड़ रहे हैं। दुर्गम क्षेत्र में अभियान के खतरे रहते हैं, लेकिन देशहित और प्रबल राष्ट्रीय भावना से प्रेरित होकर जवान नक्सलियों से मोर्चा ले रहे हैं। नक्सलवाद एक चुनौती है, हम उसे स्वीकार करते हैं और उस पर विजय पाएंगे।
नक्सलियों के खिलाफ सेना को उतारने के सवाल पर उन्होंने कहा कि नक्सल मोर्चे पर सेना को नहीं उतारा जाएगा। एनडीए की सरकार आने के बाद नक्सल अभियान में बदलाव के सवाल पर उन्होंने कहा कि केंद्र में यूपीए और एनडीए की सरकार का सवाल नहीं है। जिन क्षेत्रों में अभियान चलाया जा रहा है, वहां आम आदमी का पहुंचना मुश्किल है। जवानों की शहादत से हुई क्षति की भरपाई संभव नहीं है, लेकिन सरकार शहीदों के परिवार की पूरी तरह से चिंता करेगी। जवानों के जज्बे को सलाम करते हुए उन्होंने कहा कि घायल जवानों के हौंसले बुलंद हैं और वे खतरे से बाहर हैं।

आरोप-प्रत्यारोप का समय नहीं

राजनाथ सिंह ने विरोधियों पर निशाना साधते हुए कहा कि यह समय आरोप-प्रत्यारोप का नहीं है। नक्सली हमले को केवल सरकार से जोड़कर नहीं देखना चाहिए। केंद्र की ओर से 2400 करोड़ की राशि रोकने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस समय वे प्रक्रिया के सवालों पर कोई चर्चा नहीं करेंगे। घायल जवानों के लिए 24 घंटे बाद हेलिकॉप्टर पहुंचने और नाइट लैंडिंग की व्यवस्था नहीं होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से भेजे प्रस्तावों पर विचार किया जाएगा।

चूक स्वीकार की

सुकमा जिले में हुई नक्सली घटना पर श्री सिंह ने चूक स्वीकार की है। उन्होंने कहा कि जहां आदमी का जुड़ाव होता है, वहां चूक होती है। चूक के बाद फोर्स भी सुधार करती है। श्री सिंह ने कहा कि बैठक में क्या रणनीति बनाई है, इसका खुलासा नहीं करेंगे, लेकिन परिणाम निश्चित रूप से सामने आएंगे। राज्य और केन्द्र सरकार के बीच पूरा तालमेल है, कहीं कोई दिक्कत नहीं है।

शहीद परिवार को 38 लाख

राजनाथ सिंह ने कहा कि शहीद परिवार को 38 लाख रुपए दिया जाएगा। घायलों को तात्कालिक रूप से 65-65 हजार रुपए देने के साथ नि:शुल्क इलाज की व्यवस्था की जा रही है।


नक्सली हमले में सीआरपीएफ के 14 जवान शहीद

03 December 2014
जगदलपुर/नारायणपुर। छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के चिंतागुफा के पास सोमवार दोपहर नक्सलियों ने इस साल की एक और बड़ी वारदात को अंजाम दिया। नक्सलियों के इस हमले में सीआरपीएफ के दो अधिकारियों समेत 14 जवान शहीद हुए। इसमें सीआरपीएफ की 223 बटालियन के डिप्टी कमांडेंट डीएस वर्मा निवासी कानपुर और असिस्टेंट कमांडेंट राजेश कपुरिया निवासी राजस्थान शामिल हैं। सीआरपीएफ ने सोमवार देर रात 14 जवानों के शहीद होने और 15 के घायल होने की पुष्टि की है। हमले की जानकारी मिलने के बाद दिल्ली दौरे पर गए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह कार्यक्रम निरस्त कर वापस लौट आए हैं। देर रात उन्होंने सीएम हाउस में आपात बैठक ली। दूसरी ओर सीआरपीएफ के आला अधिकारियों ने हमले को लेकर दिल्ली में आपात बैठक की है।
जानकारी मिली है कि केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह मंगलवार को रायपुर आएंगे। अब तक मिली जानकारी के अनुसार माना जा रहा है कि सूचना तंत्र की विफलता के कारण यह घटना हुई है। हमले के दौरान जवानों की जवाबी कार्रवाई में कुछ नक्सलियों के मारे जाने की सूचना है, लेकिन इसका ब्योरा उपलब्ध नहीं हो पाया है। मंगलवार की सुबह हेलिकॉप्टर से शहीदों के शवों को रायपुर लाया जाएगा।
एडीजी नक्सल ऑपरेशन आरके विज ने बताया कि चिंतागुफा से दस किलोमीटर दूर कसलनार के पास नक्सलियों ने संयुक्त ऑपरेशन पर निकले जवानों को निशाना बनाया। एरिया डामिनेशन के लिए कोबरा की 206वीं बटालियन और सीआरपीएफ की 223वीं बटालियन के जवान सर्चिग पर थे। नक्सलियों ने फायरिंग से पहले ब्लॉस्ट किया। दोपहर लगभग दो बजे एंबुश लगाकर हमला किया। नक्सली हमले में 15 जवानों के घायल होने की सूचना है, जिसमें सात जवानों की स्थिति गंभीर बताई जा रही है। घटनास्थल पर देर रात तक फाइरिंग होती रही। पुलिस की तीन पार्टियों के जंगल में फंसी होने की खबर मिल रही है। 29 नवम्बर को गोरगुड़ा, पोलमपल्ली, कांकेरलंका, पुसवाड़ा, तेमेलवाड़ा, चिंतागुफा, बुरकापाल, चितंलनार, भेज्जी के सीआरपीएफ, कोबरा व जिला पुलिस बल के जवान सर्चिग ऑपरेशन के लिए अलग-अलग जगहों से निकले थे। सर्चिग पार्टी को सोमवार शाम चिंतलनार पहुंचना था। कांकेरलंका व चिंतागुफा से निकली हुई पार्टी के साथ नक्सलियों की मुठभेड़ हुई है। मुठभेड़ में नक्सलियों ने घात लगाकर जवानों पर हमला बोल दिया। समाचार लिखे जाने तक बुरकापाल, चिंतागुफा, कांकेरलंका व पुसवाड़ा की पार्टी नहीं पहुंची हैं। जंगल में नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना पुलिस टीम के पास थी। इसे देखते हुए ही ऑपरेशन किया जा रहा था। बताया जा रहा है कि नक्सली भी सैकड़ों की संख्या में थे।

सीआरपीएफ आईजी भी थे सर्चिग ऑपरेशन पर

सीआरपीएफ के आला अधिकारियों के अनुसार ऑपरेशन के दौरान सीआरपीएफ के आईजी एचएस सिद्ध भी मौजूद थे। बताया जा रहा है कि यह वारदात उसी स्थान पर हुई है, जहां पिछले महीने नक्सलियों ने एयरफोर्स के हेलिकॉप्टर पर गोलीबारी की थी। नक्सली दो दिसंबर से पीएलजीए सप्ताह मनाने की तैयारी में थे। इसे लेकर सुकमा और आसपास के इलाकों में नक्सलियों ने पर्चे भी फेंके थे। नक्सलियों के अभियान को देखते हुए पुलिस टीम ने जंगल में सर्चिग ऑपरेशन चलाया था।

नक्सलियों में सामना करने का साहस नहीं: रमन

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने नक्सलियों द्वारा सुरक्षा बलों पर घात लगाकर किए गए हमले की कठोर शब्दों में निंदा की है। डॉ. सिंह ने सुरक्षा बलों के अधिकारियों और जवानों की शहादत पर गहरा दु:ख व्यक्त किया है। शहीदों के शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना और सहानुभूति प्रकट करते हुए घायल जवानों के जल्द स्वास्थ्य लाभ की कामना की है।
डॉ. सिंह ने कहा कि नक्सलियों में इतना साहस नहीं है कि वे सुरक्षा बलों से आमने-सामने मुकाबला कर सकें, इसलिए उन्होंने कायरतापूर्ण तरीके से घात लगाकर हमला किया। शोक संतप्त परिवारों के दु:ख की इस घड़ी में छत्ताीसगढ़ सरकार और राज्य की जनता हर कदम पर उनके साथ खड़ी है।

रात को नहीं भेजा गया हेलिकॉप्टर

संभाग मुख्यालय स्थित एयरफोर्स का हेलिकॉप्टर रात में भी उड़ान भर सकता है, लेकिन हमले के आशंका के चलते रात में हेलिकॉप्टर रवाना नहीं किया गया।
सूत्रों के अनुसार इलाके में दक्षिण बस्तर रीजनल कमेटी का प्रभाव है। यहां नक्सलियों की बटालियन नंबर एक भी तैनात है। क्षेत्र में सीआरपीएफ का एक बड़ा ऑपरेशन चल रहा है। घायल जवानों को चिंतागुफा थाना लाया गया है। यहां से एनएच 30 पर स्थित दोरनापाल की दूरी करीब 35 किमी है। यह पूरा क्षेत्र नक्सल प्रभाव वाला होने के कारण रात के वक्त घायल जवानों को जगदलपुर नहीं लाया जा पा रहा है, वहीं थाने में उनका इलाज किया जा रहा है।

सेंट्रल कमेटी का हाथ

नक्सलियों ने दो दिन पहले चिंतागुफा के पास एक बड़ी मीटिंग की थी। इसमें सैकड़ों नक्सलियों के शामिल होने की खबर है। बताया जा रहा है कि नक्सलियों द्वारा जवानों को फंसाने के लिए सुनियोजित ढंग से एम्बुश बिछाई गई थी। इस नक्सली वारदात की रणनीति माओवादियों की सेंट्रल कमेटी के द्वारा बनाए जाने की खबरें आ रही हैं।
सूत्रों के मुताबिक 29 नवम्बर को गादीरास के गोरली पहाड़ी क्षेत्र में सेंट्रल कमेटी के सदस्य पंकज, एलओएस सन्नी, आंध्र के एक लीडर जगदीश व देवा की मौजूदगी में नक्सलियों की बैठक हुई थी। इन्हें फोर्स के सर्चिग मूवमेंट की जानकारी थी। पिछले कुछ दिन से इस क्षेत्र में सीआरपीएफ के जवान ऑपरेशन में थे। सोमवार को जवान दक्षिण बस्तर की कमेटी के द्वारा बनाए गए एम्बुश में फंस गए।

गौरतलब है कि पंकज लंबे समय तक सेंट्रल कमेटी के प्रवक्ता के रूप में सक्रिय रहा, वहीं आंध्र का नक्सली लीडर जगदीश दक्षिण बस्तर की 26 नंबर प्लाटून का कमांडर हैं।

असवाल ने ली आपात बैठक

गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव एनके असवाल ने सोमवार देर रात सीआरपीएफ मुख्यालय में पुलिस और सीआरपीएफ के आला अधिकारियों की आपात बैठक ली। बैठक में डीजीपी एएन उपाध्याय, एडीजी आरके विज, राजीव श्रीवास्तव, सीआरपीएफ के डीआईजी केके भट्टाचार्य सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। एनके असवाल ने बताया कि एंबुश में फंसने के कारण जवानों की मौत हुई है। कुछ नक्सलियों के मारे जाने की भी जानकारी मिल रही है। आईजी बस्तर एसआरपी कल्लूरी से रिपोर्ट मंगाई गई है, जिसके बाद स्थिति और स्पष्ट हो जाएगी।

मोदी ने किया जवानों की शहादत को सलाम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नक्सली हमले को लेकर ट्विट किया है। नरेंद्र मोदी ने नक्सली हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवानों को सलाम किया है। साथ ही उन्होंने गृहमंत्री राजनाथ सिंह और मुख्यमंत्री रमन सिंह को निगरानी का निर्देश दिया है।


आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों को नौकरी देगी सरकार

03 December 2014
रायपुर। छत्तीसगढ़ में आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों को राज्य सरकार नौकरी देने पर विचार कर रही है। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मण्डल के सदस्यों से रविवार को सीएम हाउस में मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि आत्मसमर्पित नक्सलियों को राज्य सरकार होमगार्ड में भी भर्ती करना चाहती है। पूर्व विदेश सचिव श्याम सरन के नेतृत्व में बोर्ड के सदस्यों ने राज्य की नक्सल समस्या के विभिन्न पहलुओं पर विचार-विमर्श किया। उन्होंने प्रभावित इलाकों में सुरक्षा इन्तजाम के साथ-साथ जनता की सामाजिक-आर्थिक बेहतरी के लिए संचालित विभिन्न योजनाओं के बारे में चर्चा की।
मुख्यमंत्री ने बताया कि बस्तर अंचल में लगभग चार हजार स्थानीय युवाओं को राज्य पुलिस में सहायक आरक्षक के पद पर नियुक्त किया गया है।
उन्होंने नक्सलियों को समाज तथा राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल करने के लिए आत्मसमर्पण तथा पुनर्वास नीतियों को और भी अधिक आकर्षक बनाने की जरूरत पर बल दिया। आत्मसमर्पित नक्सलियों को नौकरी देने के लिए अगर कुछ तकनीकी रकावटें हों तो उन्हें विधि सम्मत तरीके से हल करने का भी प्रयास किया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने बोर्ड के सदस्यों को नक्सल प्रभावित क्षेत्र के बच्चों की शिक्षा, आवासीय स्कूलों के रूप में संचालित पोटा कैबिनों और मुख्यमंत्री बाल भविष्य सुरक्षा योजना के तहत प्रयास आवासीय विद्यालयों के बारे में जानकारी दी।
राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बोर्ड के अध्यक्ष श्याम सरन ने बताया कि बोर्ड के सदस्य एक रिपोर्ट तैयार करके केंद्र सरकार को देंगे। इसमें नक्सल समस्या और उससे निपटने के लिए राज्य और केंद्र की योजनाओं के क्रियान्वयन की जानकारी दी जाएगी। इसके साथ ही नक्सल नीति पर भविष्य में होने वाले बदलाव के बारे में रिपोर्ट सौंपी जाएगी। डॉ. रमन सिंह ने बस्तर इलाके में सड़क नेटवर्क के साथ-साथ हवाई यातायात सम्पर्क तथा संचार नेटवर्क के विकास और विस्तार की जरूरत पर भी बल दिया।

टीम में ये सदस्य शामिल

बोर्ड के सदस्य डॉ. भास्कर बालकृष्णन [क्यूबा में भारत के पूर्व राजदूत] जयदेव राणाडे [पूर्व अतिरिक्त सचिव, कैबिनेट सचिवालय भारत सरकार], पीसी हालदार [पूर्व निदेशक आईबी] पेट्रिशिया मुकीम [पद्मश्री सम्मान प्राप्त समाज विज्ञानी और महिला अधिकार कार्यकर्ता] तथा प्रमीत पाल चौधरी [पूर्व विदेश संपादक हिन्दुस्तान टाइम्स] भी शामिल थे।


मवेशी चराते-चराते बन गया हार्डकोर नक्सली

24 November 2014
रायपुर। पांचवीं की परीक्षा में फेल हुआ तो घर वालों ने जगत धुरवा को जंगल में मवेशी चराने के काम में लगा दिया। जंगल में उसकी मुलाकात नक्सलियों से हुई और देखते ही देखते वह दुर्दात नक्सली बन गया। सालों तक पुलिस के लिए चुनौती रहे धुरवा का नक्सलवाद से तब मोहभंग हुआ जब उसने संगठन में भेदभाव देखा और अपमानित महसूस करने लगा। आखिरकार शनिवार को उसने पुलिस के सामने हथियार डाल दिए।
पुलिस कंट्रोल रूम में हुई एक प्रेसवार्ता में एसपी डॉ. संजीव शुक्ला ने राजनांदगांव कांकेर बॉर्डर डिवीजन कमेटी के मदनवाड़ा-कोडेखुर्से सयुंक्त एलओएस के सदस्य 21 वर्षीय जगत राम धुरवा उर्फ रमेश पिता हिरगु राम, ग्राम ओटेकसा, थाना कोड़ेखुर्से जिला कांकेर द्वारा आत्मसमर्पण करने की जानकारी दी। आत्म समर्पित नक्सली जगत उर्फ रमेश धुरवा वर्ष 2004 में पांचवी फेल होने से पढ़ाई छोड़ कर घर के मवेशी चराने का काम करता था। इस दौरान गांव ओटेकसा में कोडे़खुर्से दलम कमांडर रैनु [आन्ध्रप्रदेश], जीवन, फूलो, जंगू, डीवीसी कमलाकर [आन्ध्रप्रदेश] ने उसे अपने साथ मिला लिया।
डॉ. शुक्ला ने बताया कि गांव आने पर नक्सली गांव के स्कूल में महिला पुरुष एवं बच्चों को मीटिंग में बुलाते थे। सीएनएम पार्टी के फूलो एवं ललिता नाच गाना करते थे। वर्ष 2008 में सीएनएम पार्टी कमांडर अगासा उर्फ आरती के नाच गान से प्रभावित होकर रमेश धुरवा भी सीएनएम पार्टी में शामिल हो गया। वर्ष 2008 से दिसंबर 2010 तक उसने सीएनएम पार्टी में कार्य किया। 2010 दिसम्बर में डीवीसी विजय रेड्डी ने उसे प्लाटून 23 में सदस्य बनाया। कमांडर जंगू ने रमेश धुरवा को 12 बोर बंदूक व 20 कारतूस दिया। फरवरी 2010 में मदनवाड़ा एलओएस में भेजा गया। इसके बाद मदनवा़़डा व कोडेकुर्से संयुक्त एलओएस में वह काम करता रहा।

नक्सली नेताओं से था अपमानित

जगत धुरवा ने बताया कि आंध्र प्रदेश के नक्सली नेता स्थानीय नक्सलियों कोछोटी-छोटी बातों पर अपमानित तथा भेदभाव करते हैं। नक्सलियों की कथनी एवं करनी में अंतर को देख कर उसका मन नक्सली विचारधारा से भी विचलित हो गया।

1 लाख 31 हजार का ईनाम

आत्मसमर्पित नक्सली जगत उर्फ रमेश धुरवा पर छत्तीसगढ़ शासन द्वारा 1 लाख रुपए, पुलिस महानिरीक्षक दुर्ग क्षेत्र द्वारा 30 हजार व पुलिस अधीक्षक राजनांदगांव द्वारा एक हजार रुपए का ईनाम घोषिषत किया गया था।


करंगा परिवार के मुखिया की ग्यारह दिन बाद मौत

24 November 2014
जगदलपुर/नारायणपुर। माहका गांव में 13 नवम्बर को हुई घटना के ग्यारह दिन बाद करंगा परिवार के मुखिया ने इलाज के अभाव में अस्पताल लाने के दौरान दम तोड़ दिया। माहका के ग्रामीणों ने करंगा परिवार के मुखिया घड़वा का बैठक में कान काट दिया था। जिसके कारण इसमें संक्रमण हो जाने के कारण घड़वा राम इलाज के अभाव में काल के गाल में समा गया।
जानकारी के अनुसार आमासरा पंचायत के आश्रित गांव के ग्रामीणों ने 13 नवम्बर को घोटुल में बैठक आयोजित कर टोनही के शक में करंगा परिवार पर कहर ढहाया था। जिसमें ग्रामीणों ने टोनही के शक में करंगा परिवार की बैठक में बेदम पिटाई कर दी थी। इस पिटाई में ग्रामीणों ने दशरी एवं रामबती को मौत के घाट उतार दिया था। वहीं ग्रामीणों की पिटाई से परिवार का मुखिया घड़वा जिंदगी और मौत के साए में दिन गुजार रहा था।
ग्रामीणों ने टोनही के शक में मां-बेटी को मौत के घाट उतारने के साथ ही करंगा परिवार के मुखिया घड़वा करंगा का बाएं कान काट दिया था। इस घटना के बाद गांव से बेदखल होने से घडवा खेत में बनी लाढी के रह रहा था। लेकिन घडवा की स्थिति अचानक खराब होने के कारण परिजनों ने संजीवनी 108 कॉल कर मदद के लिए बुलाया है। जिसके बाद रविवार को शाम मैनपुर गांव में संजीवनी 108 के मदद से घडवा राम को इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया जा रहा था। लेकिन रेमावण्ड के पास अस्पताल पहुंचने के पहले ही घडवा करंगा ने दम तोड़ दिया।


सांसदों का सीधा हमला, कहा अफसर और सचिव हमारा फोन नहीं उठाते

24 November 2014
रायपुर। नसबंदी कांड की राज्य के भाजपा सांसदों को जानकारी देने के लिए बुलाई गई राज्य सरकार की बैठक में सांसदों की नाराजगी खुलकर सामने आ गई। सांसदों ने खुलकर कहा कि राज्य के वरिष्ठ अफसर उनकी उपेक्षा करते हैं। एक सांसद ने तो यहां तक कह दिया कि सचिव और उससे ऊपर के अफसर तो सांसदों का फोन ही नहीं उठाते हैं। इससे अफसरों ने सफाई दी। दूसरी ओर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अफसरों को निर्देश दिए कि अफसर सांसदों का सम्मान करें और भविष्य में ऐसा न हो यह सुनिश्चित करें।
लोकसभा के शीतकालीन सत्र में भाग लेने के लिए दिल्ली रवाना हो रहे भाजपा के सांसदों को राज्य मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने रविवार को नसबंदी कांड के बारे में जानकारी देने के लिए आमंत्रित किया गया। इसमें सरकार की ओर से बताया गया कि घटना होने के बाद किस तरह सरकार ने काम किया और पूरी घटना की जांच के लिए न्यायिक जांच आयोग गठित किया गया है। इसके अलावा अब तक की गई कार्रवाई के बारे में भी बताया गया। इसी दौरान सांसदों ने घटना पर दुख जताया और कहा कि अफसरों ने राज्य सरकार की गाइड लाइन को ही मान लिया होता तो ऐसी घटना नहीं होती। घटिया दवा से मौतें होने की बात आई तो सांसदों ने कहा कि अफसर इसमें सरकार के ही निर्देशों को ही नहीं मान रहे हैं। दवा खरीदी के लिए जिम्मेदार अफसरों पर कार्रवाई करने की बात आई तो सरकार की ओर से बताया गया कि ऑपरेशन और दवा खरीदी करने वालों को बर्खास्त कर दिया गया है।
आशंका है कि संसद में नसबंदी कांड पर विपक्ष के द्वारा सरकार को घेरने का प्रयास किया जाएगा। इसीलिए राज्य के सांसदों को सरकार ने पूरी घटना का ब्यौरा दिया है। बैठक में नसबंदी कांड पर चर्चा के बाद सांसदों ने अपने-अपने क्षेत्र की समस्याएं गिनाईं। उन्होंने अपने क्षेत्र में विकास कार्य नहीं होने और अफसरों की मनमानी की बातें कहीं। मुख्यमंत्री ने उनकी समस्याओं के निराकरण का आश्वासन दिया। उन्होंने प्रदेश के विकास कार्यों के केंद्र में लंबित प्रस्तावों की जानकारी दी। सांसदों को एक बुकलेट दी गई है, जिसमें केंद्र सरकार के पास प्रदेश के विचाराधीन मामलों की जानकारी है। बैठक में सांसद रमेश बैस, चंदूलाल साहू, दिनेश कश्यप, कमल भान सिंह, लखनलाल साहू, अभिषेक सिंह, डॉ. बंशीलाल महतो, तथा राज्य सभा सांसद रणविजय प्रताप सिंह जूदेव और डॉ. भूषण लाल जांगड़े मौजूद थे।

नई राजधानी के लिए सात हजार करोड़ का पैकेज :

छत्तीसगढ़ केंद्र से नई राजधानी के लिए पैकेज की मांग करेगा। इसके बारे में सांसदों को बताया गया। केंद्र ने अभी तक वित्त आयोग के तहत 750 करोड़ रुपए की स्वीकृति दी है। केन्द्र सरकार ने तेलंगाना राज्य निर्माण के लिए आंध्रप्रदेश व्यवस्थापन अधिनियम 2014 लागू किया है। आंध्रप्रदेश को नई राजधानी के निर्माण के लिए केंद्र से विशेष आर्थिक पैकेज दिया जा रहा है। इसमें राजभवन, विधानसभा एवं अन्य अधोसंरचना विकास के लिए केन्द्र से राशि उपलब्ध कराने का प्रावधान है। नया रायपुर विकास प्राधिकरण ने इस संबंध में 14वें वित्त आयोग के तहत 7670 करोड़ रूपए का प्रस्ताव तैयार किया है।

रिपोर्ट आने पर कड़ी कार्रवाई

सांसदों को नसबंदी कांड को लेकर कहा गया कि सरकार पूरे मामले की न्यायिक जांच कर रही है। आयोग की रिपोर्ट आने पर इसमें जो भी जिम्मेदार ठहराया जाएगा, उसके खिलाफ और भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी। बताया गया कि कुल 121 में से अब तक 104 महिलाओं को स्वस्थ होने पर अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई है। 24 नवम्बर की स्थिति में 17 महिलाओं का इलाज चल रहा है।

केंद्र में लंबित प्रस्ताव
राष्ट्रीय आदिवासी विवि की स्थापना का प्रस्ताव
नया रायपुर में नई ब्राड गेज रेल लाइन निर्माण
नया रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने 742 करोड़ का प्रोजेक्ट
रायपुर-जगदलपुर में नेत्रहीनों के लिए ब्रेल प्रेस की स्थापना
बस्तर, सरगुजा व बिलासपुर विवि के लिए 600 करोड़ का प्रस्ताव।


डॉ. गुप्ता की जमानत अर्जी खारिज

22 November 2014
रायपुर। मध्य प्रदेश के पेंडारी नसबंदी कांड में महिलाओं की मौत मामले में गिरफ्तार किए गए गए वरिष्ठ सर्जन डॉ. आरके गुप्ता की जमानत अर्जी खारिज हो गई है।
नसबंदी शिविर में तकरीबन 83 महिलाओं का ऑपरेशन किया गया था। इसमें से 14 महिलाओं की मौत हो गई थी। जांच के दौरान प्रथमदृष्टया ऑपरेशन थियेटर, उपकरण और औजार में संक्रमण पाया गया था।


मतदाताओं के नाम पर अब नहीं चलेगी लाल स्याही

22 November 2014
जगदलपुर। नगरीय निकाय व पंचायत चुनाव के लिए तैयार मतदाता सूची के विलोपन सूची में शामिल मतदाताओं का नाम मूल प्रति से हटाने अब लाल स्याही का प्रयोग नहीं किया जाएगा। इसकी बजाए अब रबर सील से इसे प्रदर्शित किया जाएगा।
कलेक्टर अंकित आनंद ने छत्तीसगढ़ राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देशों का पालन करने के निर्देश दिए हैं। विदित हो कि चुनाव के लिए प्रशासन की तैयारी जारी है। हालांकि राजनीतिक दल भी इसमें पीछे नहीं हैं, लेकिन प्रशासन के नियमों के चलते वे दायरे में ही कार्य करना उर्पयुक्त समझ रहे हैं।


सेना के हेलिकॉप्टर को नक्सलियों ने बनाया निशाना

22 November 2014
रायपुर। सुकमा जिले की चिंतागुफा से ऑपरेशन पर निकले सीआरपीएफ और कोबरा के करीब 240 जवानों पर सैकड़ों नक्सलियों ने शुक्रवार की दोपहर घात लगाकर हमला कर दिया। मुठभेड़ की शुरुआत दोपहर 12 बजे के करीब हुई। इसके बाद करीब तीन घंटे तक दोनों तरफ से फायरिंग होती रही। घटना में सीआरपीएफ के 6 जवान घायल हो गए हैं। घायल जवानों को लाने गए वायुसेना के हेलिकॉप्टर को भी नक्सलियों ने निशाना बनाया। पायलट एमके तिवारी घायल हो गए हैं। मिली जानकारी के अनुसार, सीआरपीएफ इस इलाके में पिछले 16 नवंबर से नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन चला रही थी। जवान कैंप से सुबह पांच बजे जंगलों के लिए रवाना हुए थे। जवान जैसे ही बेट्टीगुड़ेम के करीब पहुंचे तो पहले से एंबुश लगाए नक्सलियों ने उन पर फायरिंग शुरू कर दी। दोनों तरफ से जमकर फायरिंग हुई। करीब तीन घंटे तक गोलीबारी के बाद नक्सली वहां से भाग निकले।

हेलिकॉप्टर को निशाना बनाने के लिए पहले से बनाई थी रणनीति

नक्सलियों ने जवानों पर हमले के साथ-साथ हेलिकॉप्टर को भी निशाना बनाने के लिए पहले से ही रणनीति बना रखी थी। यही कारण था कि नक्सलियों की एक पार्टी ने पहले जवानों को बेट्टीगुड़ेम के पास घेरा और भारी गोलीबारी की। नक्सलियों को पता था कि इस हमले में जख्मी होने वाले जवानों को नजदीक के चिंतागुफा बेस कैंप ले जाया जाएगा और इसके लिए हेलिकाॅप्टर की मदद ली जाएगी। इसके चलते एक पार्टी को हैलीपेड के पास एंबुश लगाकर रखा गया था। जैसे ही जवान संदीप भाटिया को लेकर हेलिकाॅप्टर ने टेकऑफ किया, वैसे ही घात लगाए नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी। घटना में कुछ छर्रे हेलिकाॅप्टर के पायलट एम के तिवारी के पैरों में लगे। इसके बाद हेलिपैड के पास ही आधे घंटे तक फायरिंग हुई।

ये हुए घायल

घटना में 150 बटालियन बी कंपनी के एसआई विपिन कुमार, आरक्षक 150 सीआरपीएफ बी कंपनी के मधुकर राठौर, 201 कोबरा बटालियन के आरक्षक चंद्रशेखर, आरक्षक मनोज कुमार, सीआरपीएफ आईजी का गनमैन रूपक रावत और संदीप भाटिया घायल हुए हैं।

जख्मी हालत में भी पायलट ने हेलिकॉप्टर को बेस कैंप पहुंचाया

नक्सली हेलिकॉप्टर को निशाना बनाना चाहते थे। पहले चार स्मोक बम का विस्फोट कर पायलट को भ्रम में डालने की कोशिश की। लेकिन जख्मी होने के बावजूद पायलट एमके तिवारी ने साहस दिखाते हुए बट्टीगुड़म से हेलिकॉप्टर उड़ाकर चिंतागुफा में सुरक्षित लैंड करवाया। अगर समय पर हेलिकाॅप्टर न पहुंच पाता, तो जवानों की जान जा सकती थी।


नसबंदी पीड़ितों की संख्या सार्वजनिक करे सरकार

21 November 2014
रायपुर। आम आदमी पार्टी ने बिलासपुर में नसबंदी के दौरान मौत के बाद सरकार की ओर से किए जा रहे उपाय पर सवाल खडे़ किए हैं। आप के केंद्रीय पदाधिकारी योगेंद्र यादव ने बिलासपुर में पीड़ितों से मुलाकात के बाद सरकार पर सवाल दागे।
उन्होंने पूछा कि जहरीली दवा कांड से प्रभावित व्यक्तियों की संख्या क्या है। सिम्स बिलासपुर के अनुसार उनके पास जहरीली दवा से प्रभावित कुल 129 मरीज दाखिल हुए हैं। इसमें 99 नसबंदी ऑपरेशन के बाद और 30 अन्य बीमारियों की दवाई लेने के बाद दाखिल हुए हैं। अपोलो और अन्य अस्पतालों के आंकडे़ उपलब्ध नहीं है। प्रभावितों में कितने मरीजों की हालत नाजुक है और कितने जीवन आज खतरे हैं, इसकी जानकारी सरकार सार्वजनिक करे।
योगेंद्र यादव ने पत्रकारों से चर्चा के दौरान सरकार के खिलाफ पर्चे बांटे, जिसमें सवाल किया गया कि क्या राज्य सरकार की ओर से घोषित मुआवजा केवल नसबंदी कैंप से दवा लेने वाली महिलाओं तक सीमित है या फिर यह मुआवजा उन सभी पी़ि़डतों को मिलेगा, जो जहरीली दवाओं के शिकार हुए हैं? यादव ने सवाल किया कि क्या गौरेला और पेंडारी के कैंप प्रशासन की अधिसूचित कैंपों की सूची में हैं? क्या संरक्षित अनुसूचित आदिवासी बैगा समुदाय की महिलाओं की नसबंदी की गई?

महावर का भाजपा से क्या है रिश्ता?

यादव ने सवाल खड़ा किया कि महावर फार्मा का भाजपा से क्या रिश्ता है? क्या यह सही है कि रमेश महावर भाजपा सांसद रमेश बैस के चुनाव संचालन प्रभारी थे। सरकार ने महावर फार्मा की दवाओं पर पहले बैन लगाया था, लेकिन यह बैन बिना किसी जांच के उठा लिया गया। यदि हां तो इसकी जिम्मेदारी किसकी है। दुर्घटना की जांच आयोग का अध्यक्ष ऐसे जज को क्यों बनाया गया जो मीना खलखो हत्याकांड की जांच रिपोर्ट तीन साल में देने से असफल रही हैं। क्या न्यायिक जांच आयोग की घोषणा के बाद जहरीली दवा कांड के कोई भी तथ्य सार्वजनिक नहीं किए जाएंगे।

उजागर करें जहरीली दवा की रिपोर्ट

यादव ने कहा कि क्या सरकार ने जहरीली दवा का रासायनिक परीक्षण करवा लिया है तो इसकी रिपोर्ट जनता के बीच सार्वजनिक करें। उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जहर से मौत की बात सामने आई है, लेकिन इसका खुलासा नहीं किया गया है कि वह जहर कौन सा था। अगर यह जहर जिंक फास्फाइड था तो क्या उसकी मात्रा इतनी थी कि इंसान की मौत हो जाए। अस्पताल से दवाओं और अन्य सामान जलाकर सबूतों को मिटाने का प्रयास किसके इशारे पर किया गया है। यादव ने कहा कि दवाओं की खरीदी सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार सितंबर में की गई, लेकिन दवाओं पर मैन्यूफैक्चरिंग अक्टूबर की है। क्या इस गड़बड़ी की भी सरकार जांच कर रही है।

जेनरिक दवा के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय षड्यंत्र : योगेंद्र

नसबंदी से महिलाओं की मौत के मामले को लेकर छत्तीसगढ़ के दौरे पर आए आम आदमी पार्टी के केंद्रीय पदाधिकारी योगेंद्र यादव ने सरकार और दवा कंपनियों पर निशाना साधा। गुवार को राजधानी में पत्रकारों से चर्चा में श्री यादव ने कहा कि नसबंदी कांड में कई स्तर पर षड्यंत्र किया जा रहा है। इसमें नेताओं और अधिकारियों का गठजो़़ड तो है ही, सबसे ब़़डा खेल जेनरिक दवाओं के आंदोलन को बदनाम करने का है। गरीब और आदमी को मिलने वाली सस्ती दवाओं को बदनाम करने की अंतरराष्ट्रीय साजिश है। दवा के नाम पर जहर बनाने वालों के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज होना चाहिए।
यादव ने कहा कि जब डॉक्टर पर गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज हो सकता है तो स्वास्थ्य मंत्री के खिलाफ मामला क्यों नहीं दर्ज हो सकता है? राजनीतिक इच्छा शक्ति कमजोर होने के कारण लोगों की मौत हो रही है। अगर ऐसा नहीं होता तो स्वास्थ्य मंत्री कब के बदल गए होते। आम आदमी पार्टी इस मामले को संसद में उठाएगी। सरकार तथ्यों को दबाने की कोशिश कर रही है। अगर मुख्यमंत्री गंभीर होते तो उनके इस बयान के बाद स्थिति में सुधार होती, न कि लोगों की मौत होती। सरकार में लोकलाज नहीं बची है।
अगर सरकार में शर्म बची होती तो स्वास्थ्य मंत्री बदल चुके होते। योगेंद्र यादव ने कहा कि गुजरात से लेकर ओडिशा तक विपक्ष नहीं है। कांग्रेस एक सशक्त विपक्ष के रूप में फेल हो गई है। श्री यादव ने कहा कि दवाओं के मामले की जांच हाईकोर्ट के वर्तमान जज और सीबीआई से करानी चाहिए। आप प्रदेशभर में अभियान चलाने की तैयारी में है।


पैलेस परिसर में आग लगाकर दी जान

21 November 2014
बिलासपुर/अंबिकापुर। सरगुजा पैलेस परिसर में गुरूवार की शाम एक युवक ने खुद पर पेट्रोल डालकर आग लगा ली। आग लगने के बाद वह चिल्लाते हुए इधर-उधर भागने लगा। पैलेस से लगे गैरेज में काम करने वाले लोगों ने दौड़कर आग बुझाई। तब तक युवक पूरी तरह से जल चुका था। थोड़ी ही देर बाद उसकी मौत हो गई। सूचना के बाद मौके पर कोतवाली पुलिस व युवक के परिजन पहुंच गए। पुलिस द्वारा उसे पीएम के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया।
जानकारी के अनुसार अग्रसेन चौक निवासी नवीन अग्रवाल उर्फ विक्की पिता राजेंद्र अग्रवाल 25 वर्ष पिछले 6 वर्ष से राम मंदिर रोड स्थित मुकेश प्लास्टिक में काम कर रहा था। गुरूवार की शाम करीब 6 बजे उसने पैलेस परिसर में खुद पर पेट्रोल छिड़क कर आग लगा ली। आग लगने के बाद वह चिल्लाते हुए इधर-उधर भागने लगा। पैलेस के पास ही रहने वाली एक बालिका ने उसे सबसे पहले जलते देखा। यह घटना देख वह भी चिल्लाने लगी। आवाज सुनकर पैलेस से लगे गैरेजों के कुछ कर्मचारी दौड़कर वहां पहुंचे।
उन्होंने देखा कि युवक के शरीर में आग लगी हुई है तथा वह जमीन पर गिरकर छटपटा रहा है। उन्होंने तत्काल जमीन पर पड़ी धूल व बालू युवक के शरीर पर डाला। जब तक आग बुझ पाती युवक के शरीर का अधिकांश हिस्सा से जल चुका था। इस दौरान उसकी सांसे चल रही थी। थोड़ी ही देर बाद उसकी मौत हो गई।
वहीं घटनास्थल पर लोगों की भीड़ जुट गई। सूचना मिलते ही कोतवाली एसआई भावेश गौतम सहित अन्य पुलिसकर्मी भी वहां पहुंचे। परिजनों के पहुंचने के बाद पुलिस ने शव को पीएम के लिए जिला अस्पताल भिजवाया। युवक ने किस कारण से आत्महत्या की है, इसका पता नहीं चल सका है। पुलिस मर्ग कायम कर मामले की विवेचना कर रही है।

पहचान करने में हुई मशक्कत

युवक की मौत के बाद उसका चेहरा बूरी तरह झुलस जाने से पहचान करने में काफी देर तक मशक्कत करनी पड़ी। घटनास्थल पर ही पड़े युवक के मोबाइल से पुलिसकर्मियों ने कई जगह फोन लगाया। करीब एक घंटे बाद मुकेश प्लास्टिक में काम करने वाले के रूप में उसकी पहचान हो पाई।
सूचना पर तत्काल मुकेश प्लास्टिक के संचालक मुकेश बंसल तथा मृतक का बड़ा भाई चिंटू अग्रवाल वहां पहुंचे। चिंटू छोटे भाई के शव को देखते ही उसे अपनी गोद में उठाकर बिलखने लगा।

चबूतरे पर बैठकर लगाई आग

संभावना जताई जा रही है कि युवक पूरी तैयारी के साथ वहां पहुंचा था। उसने पैलेस परिसर स्थित चबूतरे पर बैठकर पहले अपने ऊपर पेट्रोल डाला होगा। इसके बाद माचिस से आग लगा ली। इसके बाद वह इधर-उधर भागने लगा होगा।
चबूतरे के पास स्थित घास के भी जलने के निशान मिले है। वहीं घटनास्थल से युवक का जले चप्पल, मोबाइल, पर्स व जले हुए दस, बीस व 100 रुपए के नोट भी मिले। पुलिस ने वहां से सभी सामान जब्त कर लिया।


माओवादियों ने पर्चे जारी कर निकाली भर्ती

21 November 2014
रायपुर। सरकार बदलने के बाद अब नरेन्द्र मोदी माओवादियों के निशाने पर आ गए हैं। उनके खिलाफ माओवादियों ने पोस्टर वार शुरू कर दिया है। उन्होंने मोदी के भाषण को नौटंकी करार दिया है। यही नहीं 2 दिसम्बर से माओवादी छत्तीसगढ़ और ओडिसा में बड़ा भर्ती अभियान चला रहे हैं। इसके लिए इन इलाकों में पोस्टर और पर्चे जारी किए गए हैं। माओवादियों की इस मुहिम को पिछले दिनों बस्तर के इलाके में बड़ी संख्या में हुए आत्समर्पण के जवाब के रूप में देखा जा रहा है।
छत्तीसगढ़ व ओडिसा को जोड़ने वाली एक पुलिया को माओवादियों ने गुरुवार की रात बम से उड़ा दिया। इसके साथ ही जेसीबी मशीन जला दी। पर्चे भी फेंके। भारत की कम्युनिस्ट पार्टी( माओवादी) की ओडिसा राज्य कमेटी की ओर से फेंके गए पर्चे में लिखा गया है कि नरेंद्र मोदी के झूठे विकास के झूठे वादे से भूख नहीं मिटेगी। लोगों से जनमुक्ति गुरिल्ला सेना (पीएलजीए) में भर्ती होने की अपील की गई है। इस पूरे पत्र को छत्तीसगढ़ी में लिखा गया है, ताकि लोगों तक उनकी बात आसानी से पहुंच सके।
क्या लिखा है पर्चे में : ओडिसा राज्य कमेटी की ओर से जारी पर्चे में मोदी सरकार पर आरोप लगाया है कि उसने सत्ता में आने से पहले जो भी वायदे पूरे किए थे उसपर इन छह महीनों में कोई भी काम नहीं हुआ है, मोदी सरकार भी मनमोहन सरकार की तरह ही पूंजीपतियों की समर्थक है। माओवादियों ने यह भी कहा है कि मोदी सरकार के नेतृत्व में किसान और आदिवासियों के विस्थापन की तैयारी जोर-शोर से चल रही है। उन्होंने नरेन्द्र मोदी के भाषण को नौटंकी बताते हुए लिखा है कि हर हफ्ते दस दिन में दूरदर्शन और रेडियो पर भाषण जनता के साथ छलावा है।


छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की पदयात्रा 22 से, 27 को सीएम का घेराव

20 November 2014
रायपुर। नसबंदी कांड के विरोध में कांग्रेस बिलासपुर से राजधानी तक पदयात्रा करेगी। प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक में इसकी तारीख तय कर दी गई है। इसके तहत 22 से 27 नवंबर तक पदयात्रा होगा। वहीं पदयात्रा के अंतिम दिन मुख्यमंत्री निवास का घेराव किया जाएगा। बैठक में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल और नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने 25 नवंबर तक ब्लॉक और जिलों में भी पदयात्रा करने का निर्देश दिया है। कांग्रेस नेताओं ने पूरे मामले की सीबीआई जांच की मांग भी की है।
प्रदेश कांग्रेस पदाधिकारियों की बैठक में नसबंदी कांड को लेकर आंदोलन की रणनीति बनाई गई। वहीं सभी पदाधिकारियों से सुझाव लिए गए।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा कि नसबंदी कांड प्रदेश को शर्मसार करने वाला है। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी के बिलासपुर आगमन से पूरे मामले में और अधिक गंभीरता आई है।
उन्होंने पीड़ित लोगों तक भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं के नहीं आने पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अनेक संवेदनशील मामलों में मुख्यमंत्री द्वारा जनता की मांग की अनदेखी करने के कारण अराजकता की स्थिति बनी है। इनके कार्यकाल में इतनी बड़ी-बड़ी घटनाएं हुई, इसकी जिम्मेवारी मुख्यमंत्री की बनती है, इस वजह से कांग्रेस मुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांग कर रही है। बघेल ने स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल के दो कार्यकाल में आंख फोड़वा कांड, गर्भाशय कांड, नसबंदी कांड के बाद मुख्यमंत्री से उन्हें बर्खास्त करने की मांग की है। बघेल ने छत्ताीसगढ़ बंद की सफलता के लिए छत्ताीसगढ़ चेंबर ऑफ कामर्स के साथ ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं का आभार जताया। बैठक में नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने कहा कि यह आंदोलन राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी के निर्देश पर किया जा रहा है, इस वजह से इसे गंभीरता से लेना चाहिए।
उन्होंने कार्यक्रम व्यवस्थित तरीके से करने के साथ ही जिला कमेटियों को पूरी जिम्मेदारी से करने की अपील की। श्री सिंहदेव ने सदस्यता अभियान को और अधिक तेज करने पर जोर दिया। बैठक में सदस्यता अभियान की भी समीक्षा की गई।

स्वास्थ्य मंत्री को चूड़ी भेंट करने के पहले ही 39 महिला कांग्रेसी गिरफ्तार

बिलासपुर। स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल को चूड़ी भेंट करने जा रहीं 39 महिला कांग्रेसियों को पुलिस ने राजेंद्र नगर चौक से गिरफ्तार कर कोनी थाने में रखा। वहां एक घंटे के बाद उन्हें रिहार कर दिया गया। इसके पूर्व आंदोलनकारियों ने नसबंदी कांड को लेकर इंदिरा चौक से नेहरू चौक तक पैदल मार्च कर धरना दिया।
नसबंदी कांड और जहरीली दवा के मामले ने जम कर राजनीति हो रही है। पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी की जयंती पर कांग्रेसियों ने तारबाहर चौक पर सुबह 10.30 बजे श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद स्वास्थ्य मंत्री श्री अग्रवाल समेत दोषियों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर इंदिरा चौक तारबाहर से पैदल मार्च किया। महिला कांग्रेसी गांधी चौक होते हुए दोपहर में नेहरू चौक पहुंची। यहां पर धरना-प्रदर्शन कर नसबंदी कांड व जहरीली दवा को लेकर स्वास्थ्य मंत्री के इस्तीफे और दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई। इसके बाद महिला कांग्रेसी नेहरू चौक से स्वास्थ्य मंत्री श्री अग्रवाल के निवासस्थल राजेंद्र नगर की ओर ब़़ढीं। जहां पर पिछले एक सप्ताह से सुरक्षाकर्मी तैनात हैं। उन्होंने आंदोलनकारी महिला कांग्रेसियों को चौक पर ही रोक लिया। महिलाएं श्री अग्रवाल को चूड़ी भेंट करने के लिए सुरक्षा घेरे को तोड़ कर आगे बढ़ना चाह रहीं थी, लेकिन पुलिस ने 39 महिला कांग्रेसियों को गिरफ्तार कर लिया। इसमें मेयर वाणी राव एवं महिला कांग्रेस की अध्यक्ष संध्या तिवारी आदि शामिल थी। इसके बाद प्रदर्शनकारियों को कोनी थाने में रखा गया। जहां एक घंटे बाद दोपहर तीन बजे रिहा कर दिया गया।

महिलाओं के साथ पुलिस कर्मियों ने की धक्का-मुक्की

मौके पर बड़ी संख्या में पुरुष पुलिस कर्मी ही मौजूद थे। उन्होंने प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए धक्का-मुक्की की। हालांकि कुछ देर में मौके पर महिला पुलिस कर्मी भी पहुंच गई। वहीं धक्का-मुक्की को लेकर महिला कांग्रेसियों में भारी नाराजगी थी।

रायपुर-बिलासपुर रोड में लगा जाम

कांग्रेस के प्रदर्शन के कारण रायपुर-बिलासपुर मार्ग में करीब आधे घंटे तक जाम लग गया था। इसके कारण आम लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। इसके बाद भी ट्रैफिक पुलिस ने यातायात व्यवस्था को सुधारने के लिए कुछ भी नहीं किया।


सरकारी जमीन बेचने वाला गिरफ्तार

20 November 2014
बिलासपुर/अंबिकापुर। नमनाकला के खटिकपारा स्थित नजूल की जमीन को अपना बताकर बेचने वाले ग्रामीण को कोतवाली पुलिस ने मंगलवार की शाम प्रतीक्षा बस स्टैंड से गिरफ्तार कर लिया। उक्त जमीन बेचने के मामले में उसके खिलाफ धारा 420 का जुर्म दर्ज था। वह पिछले 10 दिनों से फरार चल रहा था।
गौरतलब है कि 8 नवंबर को नमनाकला स्थित खटिकपारा के प्लॉट नंबर 611/1 के 8.20 एकड़ जमीन पर अतिक्रमण की सूचना मिलने पर प्रशासनिक व निगम अमला वहां पहुंचा था। नायब तहसीलदार टीडी मरकाम के नेतृत्व में अतिक्रमण हटाने के दौरान अमले को लोगों का काफी विरोध झेलना पड़ा था।
इस दौरान कब्जाधारियों ने बताया था कि उनसे नमनाकला निवासी रामभरोस पिता विशुन राम 50 वर्ष ने जमीन को अपना बताकर बेचा है।
इसके बदले उसे 5-10 हजार रुपए का भुगतान किया गया था। कुल 11 प्लॉट की बिक्री की गई थी। इस दौरान मौके पर पहुंचे तहसीलदार पुष्पेन्द्र शर्मा ने लोगों के बयान भी दर्ज किए थे। लोगों की बात सुनने के बाद तहसीलदार पुष्पेन्द्र शर्मा ने कोतवाली टीआई को रामभरोस के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए थे।
कोतवाली में उसके खिलाफ धारा 420 का मामला दर्ज किया गया था। तब से वह फरार चल रहा था। 11 नवंबर को प्रशासन ने उक्त जमीन पर बने मकानों को ढहा दिया था। वहीं फरारी के दौरान रामभरोस ने सत्र न्यायालय में अग्रिम जमानत की अर्जी भी लगाई थी। न्यायालय द्वारा उसकी अग्रिम जमानत खारिज कर दी गई थी।
मंगलवार को कोतवाली पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली कि रामभरोस प्रतीक्षा बस स्टैंड में घूम रहा है। पुलिस ने वहां पहुंचकर उसे गिरफ्तार कर लिया। रामभरोस ने बताया कि वह मजदूरी कर अपना पेट पालता है। उसने किसी को जमीन नहीं बेचा है। सभी ने खुद ही वहां घर बनाना शुरू कर दिया था। पुलिस ने बुधवार को उसे जेल भेज दिया।


नसबंदी कांड पर राजनीति शुरू...सड़क पर उतरे कांग्रेस भाजपा

20 November 2014
बिलासपुर। भाजपा ने कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव पर जहरीली दवा सप्लाई करने वाले कविता लैबोरेटरीज के संचालकों के साथ मिलीभगत का आरोप लगाया है। भाजपाइयों ने इस मामले में कांग्रेस नेता की भूमिका को संदिग्ध बताते हुए उसकी गिरफ्तारी की मांग की। भाजपाइयों ने नसबंदी मामले की जांच कर रही न्यायिक आयोग की अध्यक्ष सहित कलेक्टर, आईजी, कमिश्नर व एसपी को ज्ञापन दिया। बाद में सिविल लाइन थाने का घेराव कर धरना भी दिया। भाजपाइयों के अनुसार कांग्रेस महामंत्री अटल श्रीवास्तव और कविता लैबोरेटरीज के संचालक राजेश खरे व राकेश खरे के बीच जमीन कारोबारी में साझेदारी है। उन्होंने 22 जुलाई 2014 को सत्यम चौक निवासी स्वदेश भंडारी, नरेंद्र भंडारी, देवेंद्र भंडारी की जमीन संयुक्त रूप से खरीदी थी। इसमें कांग्रेस नेता अभय नारायण राय ने गवाही दी थी। भाजपा ने कांग्रेस नेता पर आरोप लगाया कि वे दोनों को बचाने में अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर रहे हैं। इससे लोगों की भावनाएं आहत हो रही हैं, कांग्रेस महामंत्री अटल श्रीवास्तव की भूमिका जहरीली दवा बेचने के मामले में संदिग्ध है। इसकी जांच होनी चाहिए। उन्होंने नसबंदी मामले की जांच कर रहे न्यायिक आयोग की अध्यक्ष समेत कलेक्टर, कमिश्नर, आईजी, एसपी को ज्ञापन देकर जांच व कार्रवाई की मांग की।

आदतन बदमाश भी मौजूद रहे
ज्ञापन सौंपने से लेकर थाने का घेराव करने गए लोगों में कुछ ऐसे लोग भी शामिल थे, जिनके खिलाफ कई आपराधिक प्रकरण दर्ज हैं। इनमें सरकंडा क्षेत्र का एक आदतन बदमाश भी शामिल था। वह हाल में ही हुए एक मामले का फरार आरोपी भी है। वह यहां अपने साथियों को लेकर आया था, लेकिन पुलिस ने उसे गिरफ्तार नहीं किया।

मुद्दे को भटकाने की कोशिश

यह मुद्दों को भटकाने के लिए भाजपाइयों की कोशिश है। नसबंदी मामले में कांग्रेस विरोध प्रदर्शन कर रही है, इसलिए भाजपा के लोग मंत्री के इशारे पर एेसी बचकानी हरकत कर रहे हैं। गुरुवार से कांग्रेस का आंदोलन और भी जोर पकड़ेगा। अगर मैं मंत्री से भी अधिक प्रभावशाली हूं और इस जांच को प्रभावित कर सकता हूं तब तो इससे भाजापाइयों को शर्म आनी चाहिए।
- अटल श्रीवास्तव, प्रदेश महामंत्री कांग्रेस


मोदी का छत्तीसगढ़ का एक दिवसीय दौरा 21 को

19 November 2014
रायपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 21 नवंबर को एक दिनी प्रवास पर बिलासपुर आएंगे। नसबंदी त्रासदी में गंभीर रूप से घायल महिलाओं का अपोलो में इलाज चल रहा है। प्रवास के तुरंत बाद उनके अपोलो जाने की चर्चा है। उनके प्रवास के मद्देनजर प्रशासनिक अमले की सक्रियता बढ़ गई है। हालांकि उनके प्रवास के संबंध में आला अफसर आधिकारिक पुष्टि करने से बच रहे हैं।
बिलासपुर जिले के पेंडारी, गौरेला, पेंड्रा व मरवाही में आयोजित सरकारी नसबंदी शिविर में ऑपरेशन के बाद घर पहुंचीं महिलाओं की तबीयत एकाएक बिगड़ गई। देखते ही देखते 15 महिलाओं की जान चली गई। मानवीय आपदा के बाद पूरे देश में इस घटना को लेकर हलचल मची हुई है।
विदेश प्रवास के दौरान प्रधानमंत्री श्री मोदी ने इस संबंध में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से दूरभाष के जरिए जानकारी ली थी। श्री मोदी द्वारा तत्काल इस घटना को संज्ञान में लेते ही राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मीडिया की नजरें इस ओर लग गई। दूसरे दिन देशी और विदेशी मीडिया का जिला मुख्यालय में जमावड़ा लग गया। तब से लेकर आज तक राष्ट्रीय मीडिया की नजर इस ओर लगी हुई है।
भाजपा व प्रशासनिक सूत्रों पर भरोसा करें तो विदेशी प्रवास के तुरंत बाद प्रधानमंत्री मोदी का बिलासपुर प्रवास हो सकता है। इसे देखते हुए बीते दिनों एनएसजी की टीम यहां पहुंची थी। एक आला अफसर की मानें तो एनएसजी की टीम ने सुरक्षा के मद्देनजर छत्तीसग़़ढ भवन, सर्किट हाउस, सिम्स, जिला अस्पताल व अपोलो अस्पताल का सघन निरीक्षण किया है।
जानकारी के अनुसार मोदी चार्टर प्लेन से चकरभाठा पहुंचेंगे। वहां से हेलिकाप्टर या फिर स़़डक मार्ग से शहर पहुंचेंगे। एक जानकारी के अनुसार मोदी तकरीबन तीन घंटे शहर में रहेंगे।


आरक्षक ने लगाए अफसरों पर आरोप

19 November 2014
कोरबा। आबकारी विभाग में कार्यरत आरक्षक ने अपने अधिकारियों पर नशे के कारोबार को संरक्षण देने का आरोप लगाया है। आरक्षक ने बकायदा प्रेस वार्ता कर कहा कि अवैध शराब बिक्री के जरिए एक बड़ी रकम की वसूली हर माह की जाती है।
जिले के आबकारी विभाग में आरक्षक के पद पर अनुभव तिवारी कार्यरत है। तिवारी ने सोमवार को प्रेसवार्ता की और विभाग में चल रही गड़बडिय़ों का खुलासा किया। आरक्षक ने अपने अधिकारियों पर सीधे आरोप मढ़ा और कहा कि जिले में अवैध शराब के कारोबार को इनके द्वारा संरक्षण प्रदान किया जाता है। गांजे और नशीली वस्तुओं के व्यवसाय को भी शह दी जा रही है। विभागीय अधिकारी जिले के विभिन्न क्षेत्रों में संचालित ढाबों से प्रत्येक माह एक बड़ी रकम वसूल करते हैं। इसके एवज में ढाबों में अवैध तरीके से शराब बेचने और पिलाने की छूट प्रदान की जाती है। आरक्षक तिवारी के अनुसार इन कारगुजारियों की शिकायत विभाग के कुछ अधिकारी सहित कलक्टर और मंत्री को की जा चुकी है। तिवारी ने बाकायदा विभाग के सहायक आयुक्त पीसी अग्रवाल, सहायक जिला आबकारी अधिकारी पीएल नायक, उपनिरीक्षक नितिन खंडूजा, रंजीत गुप्ता का नाम लिया और इन पर आरोप मढ़ा।

पिछले सप्ताह हुआ था विवाद

शुक्रवार को कोरबा शहर में स्थित गोदाम में मारपीट की घटना हुई थी। आरक्षक तिवारी का उप निरीक्षक रंजीत गुप्ता के साथ विवाद हुआ था। दोनों के बीच मारपीट भी हुई। गुप्ता की रिपोर्ट पर आरक्षक के खिलाफ कोतवाली पुलिस ने धारा २९४, ५०६, ३५३, १८६ के तहत मामला दर्ज किया था। तिवारी कई दिनों से ड्यूटी से गायब था। उप निरीक्षक ने ड्यूटी पर नहीं आने का कारण पूछा था। इसी बात को लेकर झगड़ा हुआ। सोमवार को लगाए गए आरोप को इसी से जोड़ कर भी देखा जा रहा है। हालांकि विभाग के कामकाज पर इस तरह के आरोप लगते रहे हैं।


छत्तीसगढ़ में प्रस्तावित सभी नसबंदी कैंपों पर अघोषित रोक

19 November 2014
रायपुर। बिलासपुर नसबंदी हादसे में 17 महिलाओं की मौत के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने फिलहाल छत्तीसगढ़ में प्रस्तावित सभी नसबंदी कैंपों पर अघोषित रोक लगा दी है। साथ ही कहा है कि स्थिति सामान्य होने के बाद ही अगले कैंपों के लिए प्रोग्राम जारी किए जाएं। स्वास्थ्य मंत्रालय से मिले इन निर्देशों के बाद राज्य शासन के अफसरों को राहत मिली है। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक अकेले नवंबर में ही प्रदेश में करीब 14 कैंप प्लान किए गए थे लेकिन इनमें से सिर्फ पांच कैंप ही हो सके। वैसे भी प्रदेश में नसबंदी मामले में डॉक्टरों के खिलाफ आपराधिक केस दर्ज होने के बाद जो स्थिति बनी है उसमें डॉक्टर कैंपों में जाकर ऑपरेशन करने को तैयार नहीं हैं। वे डॉक्टरों के खिलाफ दर्ज किए गए केस वापस लेने की मांग पर अड़े हुए हैं। वे सीएम व प्रमुख सचिव स्वास्थ्य से मिलकर विरोध दर्ज करा चुके हैं। सूत्रों के मुताबिक प्रदेश में हुए इस हादसे से नसबंदी प्रोग्राम को भारी झटका लगा है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी केंद्र और राज्य सरकार की काफी किरकिरी हुई है। स्वास्थ्य संचालक आर. प्रसन्ना ने कहा कि छत्तीसगढ़ रोक जैसे फिलहाल कोई निर्देश नहीं हैं। लेकिन यह जरूर कहा गया है कि जो कैंप आयोजित किए जाएं उनमें स्वास्थ्य नियमों का कड़ाई से पालन किया जाए। ऑपरेशन थिएटर बेहतर होना चाहिए। एक दिन में 50-100 महिलाओं के ऑपरेशन भी न किए जाएं।

कांग्रेस ने जताया विरोध

नसबंदी कांड के विरोध में शहर जिला कांग्रेस अध्यक्ष विकास उपाध्याय मशाल के नेतृत्व में जुलूस में सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता शामिल हुए। जुलूस को आम जनता ने भी श्रद्धांजलि की मुद्रा में समर्थन देकर आक्रोश व्यक्त किया। शहर जिला कांग्रेस कमेटी के आव्हान पर आज शाम 6 बजे नसबंदी की घटना में मारे गए निर्दोष महिलाऔ को श्रद्धांजलि देने विशाल मशाल जुलूस कांग्रेस भवन से कालीबाड़ी इंदिरा गांधी चौक होते हुए फायर ब्रिगेड राजीव गांधी चौक होते हुए छोटापारा ,कोतवाली चौक से कांग्रेस भवन पहुंचकर 2 मिनट का मौन रखकर मृत आत्माओं की शांति के लिए प्रार्थना की गई। उपाध्याय ने कहा कि इतनी बड़ी घटना के बाद भी यह सरकार चुनिंदा लोगो पर कार्यवाही का ढोंग कर रही है। मुख्यमंत्री में थोड़ी भी नैतिकता होती तो वे विभागीय मंत्री से अभी तक इस्तीफा ले चुके होते। विकास उपाध्याय ने कहा कि यह सरकार मान नही लेती की वह हत्यारी है तब तक कांग्रेस द्वारा चलाई जा रही आक्रोश का लव बुझने नही दिया जायेगा। पूरे प्रदेश में गांव गांव तक इस आक्रोश के मशाल को पहुंचाया जायेगा। कांग्रेस प्रवक्ता ब्रजेश सतपथी ने आरोप लगाया कि जुलूस कांग्रेस भवन से जयस्तंभ चौक होते हुए मुख्य मार्गो से निकलने वाली थी परन्तु पुलिस प्रशासन ने नसबंदी घटना में निर्दोषों की मौत से सरकार की छवि ख़राब हो रही है का हवाला देकर अनुमति मिलने के बाद भी अंतिम क्षणो में निरस्त कर दिया। इससे साफ जाहिर होता है की रमन सरकार बैकफुट में चली गई है।


महिला जवान बदलेगी नक्सलगढ़ की फिजां

18 November 2014
रायपुर। छत्तीसगढ़ के नक्सल मोर्चे पर सीआरपीएफ के महिला जवानों की तैनाती जल्द की जाएगी। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इसकी स्वीकृति दे दी है।
छत्तीसगढ़ में सीआरपीएफ के आला अधिकारियों ने बताया कि प्रदेश में अभी महिला जवानों को तैनात नहीं किया गया है। यह बेहद संवेदनशील अभियान का हिस्सा है, इसलिए महिला जवानों की तैनाती कब होगी, इसका खुलासा नहीं किया जा सकता है। सीआरपीएफ के महिला दस्ते को बस्तर भेजने की योजना पी. चिदंबरम के गृह मंत्रित्वकाल में बनी थी।
सीआरपीएफ के आला अधिकारियों के अनुसार, महिला जवानों का दस्ता जल्द ही छत्तीसगढ़ में सक्रिय होगा। महिला जवानों का प्रशिक्षण पूरा हो गया है। सेना, सीआरपीएफ, बीएसएफ में पहले से ही महिला जवानों को तैनात किया गया है। बस्तर जैसे नक्सली क्षेत्र में पहली बार महिला जवानों को भेजने का फैसला किया गया है। सीआरपीएफ के आला अधिकारियों के अनुसार, छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के अभियान प्रभावित हुए हैं।
खुफिया रिपोर्ट के अनुसार, फरवरी से जून के बीच होने वाले नक्सलियों का टीसीओसी अभियान चालू नहीं हो पाया। नक्सलियों के टॉप लीडरों की सेंट्रल कमेटी की बैठक होनी थी, लेकिन पुलिस और अर्धसैनिक बलों के जवानों के जंगलों में घुसने के कारण यह नहीं हो पाई। सीआरपीएफ की रिपोर्ट के अनुसार, नक्सलियों के टॉप लीडर बूढे़ हो गए हैं और नक्सलियों की सेकंड लाइन लीडरशीप अभी तक तैयार नहीं हो पाई है। बस्तर में बडे़ पैमाने पर टॉप पोस्ट पर महिला कमांडर पहुंच गई हैं। इसके कारण नक्सलियों के खिलाफ अभियान में महिला जवानों को उतारा जा रहा है।
सीआरपीएफ के आला अधिकारियों के अनुसार, पिछले एक साल में नक्सलियों का गढ़ माना जाने वाले अबूझमाड़ क्षेत्र में नक्सलियों की ताकत कमजोर हुई है। पुलिस और अर्धसैनिक बलों के जवान अब घने जंगलों में पहुंच रहे हैं।
गृह विभाग के आंकड़ों के अनुसार, देश में नक्सल गतिविधियां कमजोर हुई हैं। देश में अब तक 1080 नक्सली गिरफ्तार हुए हैं, जिसमें सबसे ज्यादा छत्तीसगढ़ के हैं। इसके साथ ही देश में 353 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया, जिसमें 270 से ज्यादा नक्सलियों ने प्रदेश में आत्मसमर्पण किया है।


नसबंदी के सात साल बाद भी कराह रही बिंदा

18 November 2014
जगदलपुर/सुकमा। सुखी परिवार की चाहत में बिंदा ने बड़े अरमान से नसबंदी करवाई, लेकिन उसे क्या मालूम था कि यह निर्णय उसकी जिंदगी के लिए बोझ बन जाएगा। नसबंदी के सात साल बाद भी उसके पेट में दर्द आज भी उस दिन की कड़वी याद दिलाता है। लाख कोशिश के बाद भी सरकारी इलाज से वंचित इस महिला ने हिम्मत नहीं हारते हुए किराना दुकान खोलकर उससे होने वाली आमदनी से अपना इलाज करवा रही है।
बिंदा और उसके पति बहादुर परमार ने बताया कि 2 जुलाई 2007 का दिन उनके लिए काला दिन साबित हुआ। सुकमा के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में आयोजित नसबंदी शिविर में बिंदा ने ऑपरेशन करवाया। कुछ दिन बाद उसके पेट में दर्द होने लगा और टांके पक गए। वह इलाज के लिए सुकमा अस्पताल गई जहां डॉक्टरों ने उसे महारानी अस्पताल जगदलपुर रेफर कर दिया।
जगदलपुर में वह भर्ती तो हो गई लेकिन डॉक्टरों ने उसका गंभीरता से इलाज नहीं किया, जिससे मर्ज बढ़ता गया। दर्द से परेशान बिंदा अस्पताल से छुट्टी लेकर घर आ गई और यहां निजी खर्च में इलाज करवाया लेकिन पेट में दर्द आज भी बरकरार है। बिंदा के पति बहादुर परमार ने बताया कि इलाज में हजारों रुपए खर्च हो चुके हैं लेकिन स्थायी आराम नहीं मिला है।

इलाज करवाने खोली दुकान

आर्थिक स्थिति नाजुक होने और इलाज में घर की सारी पूंजी लगाने के बाद बिंदा को आराम नहीं हुआ तो उन्होंने कर्ज लेकर उपचार करवाया। इसके बाद भी स्थिति ठीक नहीं होने पर हिम्मत नहीं हारते हुए घर में किराना दुकान खोल ली। इससे जो आय होती है उससे वह इलाज और पेट भी पाल रही है।

इलाज मिला और न मुआवजा

बहादुर ने बताया कि उन्होंने इलाज अस्पताल में करवाया लेकिन वहां मुझसे टेप और लोशन तक खरीदने लाने कहा गया। इसके अलावा मामले की शिकायत कलक्टर सहित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से की लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। सरकारी सुविधा नही मिलने पर उन्हे घर की सामग्री बेचकर निजी खर्च पर पत्नी का इलाज करना पड़ा।


अब पहले पंचायत चुनाव की तैयारी, जनवरी के पहले हफ्ते में होंगे

18 November 2014
रायपुर। नगरीय निकाय चुनाव को लटकता देख राज्य निर्वाचन आयोग ने अब पंचायत चुनाव की तैयारी तेज कर दी है। इसकी घोषणा दिसंबर के पहले हफ्ते में कभी भी की जा सकती है। वहीं चुनाव जनवरी के पहले हफ्ते में हो सकते हैं। प्रदेश में पंचायत चुनाव पहले से जनवरी में प्रस्तावित हैं लेकिन इसके तहत चुनाव जनवरी के अंत तक कराने की योजना थी। इसमें अब बदलाव किया जा रहा है। राज्य निर्वाचन आयोग ने सभी जिलों के कलेक्टरों को निर्देश दिया है कि पंचायतों में वोटर लिस्ट को फाइनल करने जैसी जरूरी तैयारियों को अंतिम रूप दें

आयोग से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक पंचायत की तैयारियां उस समय तेज की गई हैं जब नगरीय निकाय चुनाव में देरी होना तय है क्योंकि वार्डों के परिसीमन में जिस तरीके से बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की बात सामने आ रही है, उसको सुधारने में काफी समय लगेगा। बता दें कि प्रदेश के करीब 259 वार्डों के परिसीमन में गड़बड़ी है।

प्रदेश में कुल 9734 पंचायतें, जहां होंगे चुनाव

प्रदेश में पंचायत का चुनाव सभी 9734 पंचायतों में होगा जिसमें सरपंच के साथ-साथ पंच का भी चुनाव होगा। इसके अलावा 27 जिला पंचायतों और 146 जनपद पंचायतों में भी इसी के साथ ही चुनाव कराया जाएगा जहां अध्यक्ष और सदस्य पद के लिए चुनाव होगा।

आयोग ने पंचायतों के परिसीमन पर किया फोकस

पंचायत चुनाव में कूदने से पहले आयोग ने सभी जिलों से पंचायतों के परिसीमन का काम ठीक से पूरा करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही शासन स्तर से भी इस प्रक्रिया को पूरी कराने के लिए अभियान चलाने को कहा है। आयोग ने यह निर्देश उस समय दिया है जब नगरीय निकाय चुनाव में परिसीमन के चलते ही चुनाव प्रक्रिया को रोकना पड़ा है। ऐसे में आयोग की तैयारी है कि अब पंचायत चुनाव में नगरीय निकाय जैसी दिक्कतें सामने न आएं ताकि चुनाव तय समय-सीमा में कराया जा सके।


नसबंदी कांड को लेकर प्रदेश सरकार को घेरने की तैयारी: भूपेश

17 November 2014
रायपुर। बिलासपुर नसबंदी कांड को लेकर कांग्रेस सरकार को घेरने में जुटी हुई है। इसी कड़ी में अब पदयात्रा की तैयारी की जा रही है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल और नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव पार्टी आलाकमान से चर्चा करने दिल्ली रवाना हो गए हैं। दोनों नेता दो दिन दिल्ली में रहेंगे और प्रदेश प्रभारी बीके हरिप्रसाद के साथ ही राष्ट्रीय स्तर के नेताओं से मुलाकात कर इस रणनीति बनाएंगे। वहीं राजधानी रायपुर में प्रदेश पदाधिकारियों से चर्चा कर आंदोलन की घोषणा करेंगे।
बिलासपुर नसबंदी कांड को लेकर कांग्रेस लगातार दबाव बनाते हुए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल के इस्तीफे की मांग कर रही है। इस मांग को लेकर कांग्रेस ने सरकार का पुतला दहन और छत्तीसग़़ढ बंद भी किया। वहीं अमानक दवा सप्लाई करने वाली कंपनियों के साथ दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जा रही है। इसी कड़ी में शनिवार को कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने पीड़ितों से मुलाकात की। श्री गांधी ने प्रदेश के नेताओं से इस मामले में सरकार के खिलाफ पदयात्रा निकालने के निर्देश दिए हैं।
कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक पदयात्रा बिलासपुर से लेकर राजधानी तक निकालने पर विचार किया जा रहा है। इसकी रणनीति दिल्ली में बनाई जाएगी। इसके लिए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल और नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव दिल्ली रवाना हो गए हैं।
बताया जा रहा है कि दोनों नेता दिल्ली में आला नेताओं से मुलाकात कर इस मामले में मार्गदर्शन लेंगे। करीब दो दिनों तक दिल्ली में नसबंदी प्रकरण, किसानों को धान का बोनस और समर्थन मूल्य, निगम चुनाव सहित कई मुद्दों पर चर्चा की जाएगी।
हाईकमान से निर्देश मिलने के बाद राजधानी में भी प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक होगी। इसमें ब्लॉक से लेकर प्रदेश स्तर तक आंदोलन की रूपरेखा तैयार की जाएगी। वहीं हाईकमान से मिले निर्देशों की जानकारी भी पदाधिकारियों को जाएगी। इसके बाद कांग्रेस नए सिरे से आंदोलन करेगी।


बिलासपुर के जेडी हेल्थ को भी हटाया

17 November 2014
बिलासपुर। राज्य सरकार ने बिलासपुर के प्रभारी संयुक्त संचालक डॉ. अमर सिंह ठाकुर को भी हटा दिया है। उन्हें स्वास्थ्य संचालनालय में उप संचालक बनाया गया है।
धमतरी के प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. सूर्यप्रकाश सक्सेना को बिलासपुर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के साथ संभागीय संयुक्त संचालक का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है। धमतरी में उनकी जगह पर शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. वीरेंद्र कुमार साहू को प्रभारी सिविल सर्जन बनाया गया है। उनके पास धमतरी के सीएमएचओ का भी प्रभार रहेगा।


आठवीं पास को सौंपी गई थी दवा का पेस्ट बनाने की जिम्मेदारी

17 November 2014
रायपुर। बिलासपुर के नसंबदी कांड में रविवार को नया खुलासा हुआ है। प्रारंभिक जांच में जिस दवा को इतने बड़े कांड का जिम्मेदार माना जा रहा है, उस दवा की फैक्ट्री में आठवीं पास को दवा का पेस्ट बनाने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। अपने अनुभव के आधार पर अलग-अलग केमिकल को मिलाकर पेस्ट बनाया करता था। महावर फार्मा में दवा की जांच करने लिए जिन दो केमिस्ट की नियुक्ति बताई गई है, उनमें से एक खुद फैक्टरी का संचालक है। दूसरा केमिस्ट उसका रिश्तेदार है। पुलिस ने रविवार को उसी केमिस्ट सहित तीन कर्मचारियों के बयान लिए हैं।
पुलिस के आला अफसर हालांकि पूछताछ का खुलासा नहीं कर रहे हैं। पूरे मामले में खासी गोपनीयता बरती जा रही है। भास्कर की पड़ताल में पता चला कि फैक्ट्री के ही कुछ कर्मचारियों और केमिस्ट ने पुलिस को बताया कि वहां दवा बनाने में आठवीं पास एक युवक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा था। नसबंदी मामले में सिप्रोसिन टेबलेट के उपयोग के बाद होने वाली मौत को लेकर महावर फार्मा कंपनी के संचालक रमेश महावर और फैक्टरी का कामकाज संभालने वाले उसके बेटे सुमित महावर को गिरफ्तार किया है। दोनों अभी सात दिन की पुलिस रिमांड पर हैं। फैक्टरी परिसर में रहने वाले हेमलाल धीवर ने अपने बयान में बताया कि उसे दवा के रॉ- मटेरियल मिलाने के काम दिया जाता था। स्टोर रूम से दवा के पाउडर को मिक्स कर पेस्ट बनाता था। वह आठवीं पास है। दो अन्य कर्मचारी मनमोहन और मलिकराम चंद्राकर मशीनरी और गोली बनाने का काम करते थे। वे दोनों 12वीं तक पढ़े है। उन्हें यह जिम्मेदारी सौंप दी। वे टेबलेट के सूखने के बाद उसकी बाइंडिंग करने का भी काम करते थे।

पुलिस तलाश कर रही सिप्रोसिन

महावर फार्मा में छापे के दौरान पुलिस को सिप्रोसिन टेबलेट की एक भी स्ट्रिप नहीं मिली है। पुलिस के छापे के पहले ही कंपनी के प्रबंधकों ने कई टेबलेट के वेपर जला दिए। अब उनकी गिरफ्तारी के बाद सिप्रोसिन की तलाश की जा रही है। पिछले दो दिनों से पुलिस की टीम महावर के बेटे को लेकर दवा बाजार गई थी। कई दुकानों में तलाश करने के बाद भी एक भी दवा की स्ट्रिप नहीं मिली।

टेबलेट में चूहामार दवा नहीं मिली थी

महावर फार्मा के संचालक रमेश महावर ने दावा किया है कि टेबलेट में चूहामार दवा नहीं मिली थी। यह सरासर गलत है। उनका कहना है कि ड्रग विभाग के छापे के दौरान फैक्ट्री के एक हिस्से में चूहा मारने का उपकरण मिला था। उसे भी चूहा पकड़ने के लिए वहां रखा गया था। उसी को लेकर यह हल्ला मच गया कि सिप्रोसिन टेबलेट में चूहामार दवा मिली थी। उन्होंने कहा कि इस मामले में उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए और दोषियों को बेनकाब करना चाहिए। अनावश्यक रूप से किसी को भी जांच के बिना जिम्मेदार ठहराना उचित नहीं है।

काम करने वाला केमिस्ट लापता

पुलिस ने महावर फार्मा के शुरूआत में केमिस्ट के रूप में काम करने वाले डीडी नगर निवासी गोवर्धन महावर के बयान लिए गए हैं। उन्होंने बताया कि दवा फैक्टरी के शुरू होने के दौरान वे 1996 में केमिस्ट के रूप में काम करते थे। पिछले कुछ साल से वे कभी-कभार ही फैक्टरी जाते हैं। उनकी उम्र 67 साल है। वे फैक्टरी में एक महीने में एकाध बार ही जाते हैं। महावर फार्मा की तरफ से उन्हें सालना 10-15 हजार रुपए दे दिया जाता है। फैक्ट्री के लाइसेंस में जिस केमिस्ट संतोष सूर्यवंशी का नाम आया है वह गायब है। गिरफ्तार संचालक और उसके बेटे का कहना है कि केमिस्ट संतोषी नगर में रहता था। उसे फोन लगाया गया तो वह बंद मिला। अब दोनों पिता-पुत्र उसका मूल निवास राजनांदगांव बता रहे हैं। पुलिस का मानना है कि गड़बड़ी भनक लगते ही या तो उसे गायब करवा दिया गया या वह खुद फंसने के डर से फरार हो गया है।


चोरी के तार व उपकरण समेत चार गिरफ्तार

15 November 2014
रायपुर। वन विकास निगम द्वारा ग्राम उमेश्वरपुर में कराए गए सोलर फैन्सिंग कार्य के स्थान से पाइप, एंगल, बैट्री, पैनल समेत करीब 45 हजार रुपये के उपकरण व तार को अज्ञात चोरों के द्वारा विगत फरवरी माह में प्रारम्भ कर दिया गया था। प्रेमनगर पुलिस ने पुलिस अधीक्षक प्रखर पाण्डेय के निर्देशानुसार नए सिरे से मामले की विवेचना करते हुए चोरी गए माल समेत चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है।
प्रेमनगर थाना प्रभारी एसआर कुंजाम ने बताया कि बीते फरवरी माह में ग्राम उमेश्वरपुर में वन विकास निगम द्वारा कराए गए सोलर फैन्सिंग कार्य स्थल से अज्ञात चोर करीब 45 हजार रुपये के तार व अन्य उपकरण चुरा लिए गए थे। पुलिस ने वन विकास निगम की शिकायत पर अज्ञात चोरों के विरुद्ध धारा 379 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया था। मामले के संबंध में मुखबिर से सूचना प्राप्त होने पर प्रेमनगर पुलिस ने जयराम पिता शंकरपरिहा 52 साल, आनन्द कुमार सिंह पिता बच्चन राम 30 वर्ष, धर्मसाय पिता मंगनसाय 29 वर्ष एवं जयमंगल राम पिता मड़वारी राम सभी निवासी ग्राम बड़कापारा उमेश्वरपुर को गिरफ्तार कर चोरी गए सामान व उपकरण को बरामद किए। पुलिस ने चारों आरोपियों को धारा 379, 34 के तहत गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।


एंटी लैंडमाइन वाहन जवानों को दे रहे धोखा

15 November 2014
जगदलपुर। संभाग में जहां एक ओर माओवादियों और फोर्स के बीच बड़ी जंग चल रही है। वहीं जवानों के पास माओवादियों से निपटने के लिए मजबूत संसाधन और उपकरण नही हैं। जंगल के रूट से सुरक्षित जवानों को ले जाने वाली एंटी लैंडमाइन वाहन ही जवानों के लिए खतरनाक साबित हो रही है। बीच जंगल यह वाहन जवानों को धोखा दे रही है।
बताया गया कि वाहन को दस साल हो गए हैं और समय समय पर यह गैरेज जाने की स्थिति में होती है। विभाग के पास तीन एण्टी लैंडमाइन वाहन हैं लेकिन भरोसा किसी पर भी नहीं किया जा सकता है। इस बात का खुलासा दबी जुबान से जवान भी कर रहे हैं।
कई बार इन वाहनों ने रोड ओपनिंग पार्टी को जंगल में खड़ा कर दिया है। इस वाहन को जवानों ने धक्का मारकर फिर टोचन कर सुरक्षित पहुंचाया है। इस वाहन को रिपेयर कराने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों को सूचित किया गया, लेकिन वाहनों को रिपेयर नही कराया गया। जब कि फोर्स के लिए एंटी लैंड माइन व्हीकल एक महत्वपूर्ण वाहन है। खासकर इस इलाके में जहां माओवादी अब घटनाओं को अंजाम देने के लिए बारुद का ही सहारा ले रहे हैं।

वाहन पलटने से जवान हो रहे घायल

पुलिस सूत्रों का कहना है कि जो दो और एंटी लैंडमाइन हैं वो सिर्फ चल रही हैं। लेकिन उनका भी हाल इसी वाहन की तरह है। ये दोनों वाहन भी विश्वास लायक नहीं रहे हैं। पुराने होने के कारण जवानों को इन वाहनों पर चलने में बड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। शनिवार को किले पाल के पास जो एंटीलैंड माइन पलटा था उसमें आठ जवान थे। जिसमें चार जवान घायल हुए। इन सभी का मेकॉज में उपचार चल रहा है। डॉक्टरों के मुताबिक इन सभी की हालत खतरे से बाहर है।

एक साल खड़े वाहन का उपयोग
पुलिस सूत्रों का कहना है कि किलेपाल में जिस व्हीकल ने दम तोड़ा है, वो एक साल से बुरगुम में खड़ी थी। उ पांच नवंबर को एसपी के आदेश पर उसे बुरगुम कैंप से कोड़ेनार थाना लाया जा रहा था। उसने कुछ दूर सफर तय किया और बंद हो गई। इसके बाद इस वाहन को टोचन कर लाया गया, और हादसा भी हुआ। वाहन की स्थिति से आला अधिकारियों को अवगत करवाया गया था। इसके बाद भी इस वाहन को इस्तेमाल करने का आदेश दिया गया। जब कि यह वाहन चलने की स्थिति में नहीं था। अब उसको रक्षित केंद्र छोड़ा गया है।

कलपुर्जे कभी भी खराब

जहां जिस वाहन और उपकरण की जरूरत है वही पर रहेगा। एंटी लैंडमाइन खराब नहीं थी उसे कोडऩार लाया जा रहा था इस दौरान रास्ते में ब्रेकडाउन हुआ था। वाहन नया हो या पुराना कलपुर्जों के खराबी का दावा नहीं किया जा सकता । वो कभी भी खराब हो सकते हैं।
विजय पांडे, एएसपी बस्तर


नसबंदी के बाद महिलाओं को दे दी गई चूहा मारने का जहर मिली दवा

15 November 2014
रायपुर। बिलासपुर जिले के सरकारी कैंप में हुए नसबंदी कार्यक्रम के बाद मौत की शिकार हुईं 17 महिलाओं के परिवारों से मिलने शनिवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पहुंचे। इस बीच, छत्‍तीसगढ़ सरकार ने माना है कि नसबंदी के बाद महिलाओं को दी गई दवा सिप्रोसिन जहरीली थी। राज्य के प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य)डॉ. आलोक शुक्ला ने सिप्रोसिन में जहरीला जिंक फास्फेट मिले होने की आशंका जताई। यह कंपाउंड चूहामार दवाइयों में उपयोग किया जाता है।
प्रमुख सचिव आलोक शुक्ला ने बताया कि जिन दवाओं को जब्त किया गया, उनकी जांच बिलासपुर के साइंस कॉलेज में कराई गई। इसमें जिंक फास्फेट मिले होने की पुष्टि हुई है। छापे के दौरान भी फैक्ट्री में जिंक फास्फेट मिला है। शुक्ला के मुताबिक, ऐसा लगता है कि सिप्रोसिन बनाते समय उसमें जिंक फास्फेट मिला दी गई होगी। अब दवाओं के सैंपल दिल्ली और कोलकाता की लैबों में जांच के लिए भेजा गया है। वहां से रिपोर्ट आने के बाद इस बात की पुष्टि हो जाएगी। गौरतलब है कि प्रदेश भर में इस दवा की 33 लाख टैब्लेट्स जब्त की गई हैं, जिनमें से 13 लाख सिर्फ सरकारी स्टॉक की हैं।

सिप्रोसिन खाने से बीमार पड़े युवक की मौत

सिप्रोसिन खाने से बीमार पड़े एक युवक की शुक्रवार को मौत हो गई। एक डॉक्टर की सलाह पर ली गई दवा खाने के बाद से उसकी हालत बिगड़ी थी। बिलासपुर से सटे घुटकू के मदनलाल सूर्यवंशी ने सामान्य सर्दी-जुकाम की शिकायत पर गनियारी के एक डॉक्टर से दवा ली थी। दवा खाते ही उसके पेट में तेज दर्द होने लगा। चेहरे, पैरों में सूजन गई और सांस लेने में तकलीफ होने लगी। इसके बाद, युवक के परिजनों ने गुरुवार को उसे बिलासपुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया था।


नसबंदी कांड: छापे से पूर्व लगी भनक, कंपनी ने जला दी दवाएं

14 November 2014
रायपुर। छत्तीसगढ़ में नसबंदी से हुई मौतों के लिए जिम्मेदार मानी जा रही एंटीबायोटिक दवा सिप्रोसीन 500 के एक बड़े स्टॉक को इसकी निर्माता कंपनी ने गुरुवार को खाद्य एव औषधि विभाग के छापे से पहले ही जलाकर नष्ट कर दिया। घटना के चार दिन बाद आखिरकार खाद्य एवं औषधि विभाग की टीम ने रायपुर के खम्हारडीह इलाके में स्थित महावर फार्मा कंपनी में छापा मारा।
सूत्रों के मुताबिक, कंपनी को इस छापे की भनक पहले ही मिल गई थी, इसलिए उसने कंपनी परिसर में ही इन दवाओं को जला दिया। कंपनी रिहाइशी इलाके में चलती है। गौरतलब है कि राज्य सरकार ने बुधवार को ही इस कंपनी की दवा की खरीद पर रोक लगा दी थी। वहीं, खाद्य एवं औषधि विभाग द्वारा गुरुवार से इस कंपनी की दवाओं पर राज्य में प्रतिबंध लगा दिया है।

आरोपी डॉक्टर ने प्रशासन पर लगाए आरोप

बिलासपुर में 5 घंटे में 83 महिलाओं की सर्जरी करने और उनमें से 15 महिलाओं की मौत हो जाने के मामले में आरोपी डॉक्टर आरके गुप्ता ने घटना का ठीकरा स्थानीय प्रशासन के सिर पर फोड़ा है। उन्होंने आरोप लगाया है कि राज्य सरकार की ओर से घटिया स्तर की दवाएं सप्लाई की गईं। डॉक्टर ने यह भी आरोप लगाया है कि उन्हें मामले में फंसाया जा रहा है।
आरोपी डॉक्टर को बुधवार रात गिरफ्तार किया गया था। उन्होंने बताया कि महिलाओं की हालत उस वक्त खराब होने लगी, जब सर्जरी के बाद उन्हें पेनकिलर और एक एंटी-बॉयोटिक दवा दी गई। डॉक्टर के मुताबिक, महिलाओं ने इन दवाओं के इस्तेमाल के बाद उल्टी की शिकायत की थी।
शनिवार को पंडेरी गांव में लगे सरकारी कैंप में नसबंदी के बाद मरने वाली महिलाओं की संख्या 15 हो गई है। करीब 7 महिलाएं वेंटिलेटर पर हैं। इसके अलावा, कई की हालत अभी भी खराब है।


आईएमए का दावा : केमिकल टॉक्सिमिया मौत का कारण

14 November 2014
बिलासपुर। डॉक्टरों को बचाने के लिए आईएमए के प्रख्यात डॉक्टरों की टीम ने नसबंदी कराने वाली महिलाओं की मौत का कारण खराब जेनरिक दवा व संक्रमित लेप्रोस्कोप है। आईएमए ने सभी दवाएं जब्त कर कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग की है।
आईएमए के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. प्रभात श्रीवास्तव ने शकरी व गौरेला के नसबंदी शिविर में बरती गई लापरवाही को लेकर बुधवार को बैठक बुलाइ । बैठक में महिलाओं की मौतों पर शोक व्यक्त करते हुए डॉ. श्रीवास्तव ने बताया कि उनकी टीम ने सभी घटनाओं की सिलसिलेवार विवेचना की है। इसमें पाया गया है कि सभी नसबंदी कैंपों में एक ही बैच की जेनेरिक दवा वितरित की गई थी।
इसके साथ ही जांच में यह भी पाया गया था कि चारों शिविर में प्रयोग किया गया लेप्रोस्कोप भी एक ही था। आईएमए के डॉक्टरों ने पीडि़त महिलाओं की ब्लड कल्चर रिपोर्ट व प्रोकेल्सीटोनिन निगेटिव पाया है। इससे यह सिद्ध होता है कि मामला सेप्टीसेमिया का नहीं बल्कि कैमिकल टॉक्सिमिया यानी ड्रग रिएक्शन का है।
आईएमए की ओर से जिला अध्यक्ष डॉ. एलसी मढ़रिया, सचिव डॉ. आशुतोष तिवारी, डॉ. देवेंद्र सिंह, डॉ. आरए शर्मा, डॉ. केके साव, डॉ. व्हीके खेत्रपाल, डॉ. अरुण बलानी, डॉ. अनुराग, डॉ. सुनीता घोष व डॉ. जीबी सिंह आदि उपस्थित थे।

दवाओं पर प्रतिबंध

आई बुप्रोफेन 400एमजी टेबलेट - टीटी-450414 - मे. टेक्रिकल लैब एंड फार्मा प्रा.लि. हरिद्वार
सिप्रोसीन 500एमजी टेबलेट - 14101 सीडी - मे. महावर फार्मा प्रलि. खम्हारडीह रायपुर
लिग्नोकेन एचसीएल आईपी - आरएल 108 - मे. रिगेन लेबोरेटरीज हिसार
लिग्नोकेन एचसीएल आईपी - आरएल 107 - मे. रिगेन लेबोरेटरीज हिसार
एम्जारवेट कॉटन पुल आईपी- ए 0033 - मे. हेम्पटन इंडस्ट्रीज संजय नगर रायपुर
जिलोन लोसन - जेई-179 - मे. जी फार्मा 323 कलानी नगर इंदौर

यह निकले निष्कर्ष

- मृत्यु व बीमारी का कारण घटिया जेनेरिक दवाएं हैं।
- एक ही लेप्रोस्कोप से ऑपरेशन करने के चलते संक्रमण फैला।
- एक ही बैच की दवाएं की गई सप्लाई।
- सर्जन पर लॉपरवाही का कोई मामला नहीं बनता।
- दवाओं की खरीदी व सप्लाई राज्य शासन द्वारा की गई, इसके लिए वहीं दोषी है।

इस बैच की दवाएं हुई सप्लाई

डॉ. प्रभात श्रीवास्तव ने बताया कि शिविरों में बैच क्रमांक 14101 सीडी की ही दवाएं सप्लाई की गई है। यह दवा अक्टूबर 2014 में निर्मित हुईं और व्ही केयर कंपनी द्वारा बनाई गई थीं।


प्रदेश के चार शहरों में बिजली बचाने के लिए लगेंगी एलईडी लाइटें

14 November 2014
बिलासपुर। बिलासपुर सहित प्रदेश के चार बड़े शहरों में बिजली बचत करने के लिए सोडियम लाइटों की जगह एलईडी लाइटें लगाई जाएंगी। इसके लिए नगरीय प्रशासन व विकास विभाग ने चारों शहरों के प्रमुख मार्गों में एनर्जी इफिशिएन्सी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) को नि:शुल्क डेमो करने की अनुमति दी है। गौरतलब है कि ईईसीएल भारत सरकार के ऊर्जा मंत्रालय के अधीन सार्वजनिक उपक्रम है। संस्था का दावा है कि मौजूदा सोडियम लाइटों की जगह एलईडी लाइटों के इस्तेमाल से 50 फीसदी बिजली की बचत होगी। लाइटों को बदलने पर आने वाले खर्च की वसूली सात वर्षों में होने वाली बिजली बचत से हो जाएगी। शहरों की सड़क, गलियों में वर्तमान में 40 वॉट की ट्यूब रॉड और 250 वॉट की सोडियम वेपर लाइटें लगाई गई हैं।
डेमो के बाद बिजली की बचत का आंकलन किया जाएग
चुनिंदा सड़कों पर ही लाइट लगाने की अनुमति मिली
नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग ने बिजली की बचत के लिए ईईसीएल को चार बड़े शहरों में चुनिंदा सड़कों की स्ट्रीट लाइट के स्थान पर एलईडी लाइटें लगाने की अनुमति दी है। यह नि:शुल्क डेमो होगा, जिसके जरिए बिजली बचत का आंकलन किया जा सकेगा।

शहर एलईडी लाइट लगाने तय की गई सड़कें
बिलासपुर नेहरू चौक से महाराणा प्रताप चौक
रायपुर गांधी उद्यान चौक से कलेक्टोरेट चौक
भिलाई सुपेला, घड़ी चौक से राजेंद्र प्रसाद चौक
राजनांदगांव गुड़ाखू लाइन से हलवाई लाइन होते हुए कामठी लाइन

डेमो के बाद लाइट बदलेंगे

बिजली की बचत करने के लिए चार बड़े शहरों को एलईडी लाइटें लगाने के लिए सशर्त अनुमति दी गई है। ईईसीएल चिह्नित सड़कों पर पहले नि:शुल्क डेमो कर बिजली की बचत का सत्यापन करेगा। इसके बाद सभी सड़कों की स्ट्रीट लाइटों का रिप्लेसमेंट एलईडी लाइटों से किया जाएगा।''

एलडी चोपडे़, अवर सचिव नगरीय प्रशासन, रायपुर

बिलासपुर में स्ट्रीट लाइटों का बिजली बिल चार करोड़ सालाना

बिलासपुर शहर में नगर निगम ने सड़क और गलियों को रौशन करने के लिए बिजली के 14 हजार खंभों में 40-40 वॉट की ट्यूब रॉड लगवाई हैं। मेन रोड के डिवाइडर पर 250 वॉट की सोडियम लाइटें लगाई गई हैं। इनका बिजली बिल 30 लाख रुपए मासिक और चार करोड़ रुपए वार्षिक है। नेहरू चौक से महाराणा प्रताप चौक तक 1400 मीटर लंबी सड़क के दोनों ओर करीब 80 लाइटें लगाई गई हैं। ईईसीएल का दावा है कि एलईडी लाइटें 50 हजार घंटे तक मेंटनेंस फ्री हैं। इस बीच खराबी आने पर इनका नि:शुल्क रिप्लेसमेंट किया जाता है। मौजूदा 40 वाॅट के बल्ब के बराबर 19 से 21 वॉट की एलईडी लाइटें और 250 वॉट की सोडियम लाइटों की जगह 120 वॉट की एलईडी लाइटें पर्याप्त रोशनी बिखेरती हैं। एलईडी लाइटों की कीमत मौजूदा स्ट्रीट लाइटों में लगाए जाने वाले बल्ब, ट्यूब रॉड की तुलना में तिगुनी होती है।


नसबंदी कांड: केंद्र, राज्य सरकार व एमसीआई को नोटिस

13 November 2014
रायपुर। पेंडारी में नसबंदी के बाद 14 महिलाओं की मौत के मामले को हाईकोर्ट ने स्वत: संज्ञान में ले लिया है। युगलपीठ ने मामले में राज्य सरकार, केंद्र सरकार और मेडिकल कौंसिल ऑफ इंडिया [एमसीआई] को नोटिस जारी कर 10 दिनों के भीतर जवाब मांगा है। साथ ही कोर्ट को सहयोग करने के लिए अधिवक्ता सलीम काजी और अधिवक्ता सुनीता जैन को न्याय मित्र नियुक्त किया है।
छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले के पेंडारी स्थित नेमी चंद जैन अस्पताल में बीते 8 नवंबर को आयोजित शासकीय शिविर में नसबंदी कराने वाली महिलाओं की तबीयत ऑपरेशन के बाद से ही बिगड़ने लगी। सोमवार से बुधवार दोपहर तक नसबंदी करने वाली 14 महिलाओं की मौत हो गई। इसके अलावा 15 महिलाएं जीवन के लिए संघर्ष कर रही हैं। वहीं 50 से अधिक महिलाओं का शहर के विभिन्न अस्पतालों में उपचार चल रहा है। मीडिया और अखबारों में लगातार प्रकाशित हो रही खबरों कोहाईकोर्ट के जस्टिस टीपी शर्मा व जस्टिस इंदर सिंह उबोवेजा की युगलपीठ ने स्वत: संज्ञान में लेते हुए जनहित याचिका के रूप में स्वीकार किया है। बुधवार दोपहर 13:30 बजे कोर्ट ने प्रकरण में अतिरिक्त महाधिवक्ता अशुतोष सिंह कछवाहा और प्रफुल्ल भारत को बुलाकर मामले में राज्य सरकार, केंद्र सरकार और एमसीआई को नोटिस जारी कर 10 दिनों के अंदर जवाब मांगने के निर्देश दिए हैं। न्याय मित्र नियुक्त अधिवक्ता काजी और अधिवक्ता सुनीता जैन को रजिस्ट्रार जनरल कार्यालय से हाईकोर्ट के आदेश की प्रति उपलब्ध करा दी गई है।

रिश्तेदारों को विशेष सुविधा उपलब्ध कराने का आदेश

शिविर में नसबंदी कराने के बाद बीमार हुई ज्यादातर महिलाओं के छोटे-छोटे बच्चे हैं। परिवार के सदस्य अस्पताल में भर्ती महिलाओं के साथ बच्चों को भी संभाल रहे हैं। इसकी वजह से उन्हें काफी परेशानी हो रही है। उनके रहने-खाने का भी कोई ठिकाना नहीं है। न्यायालय ने इस बात पर भी संज्ञान में लेते हुए अस्पताल में भर्ती मरीजों के रिश्तेदारों को विशेष सुविधा उपलब्ध कराने का आदेश दिया है।

हाईकोर्ट को है विशेष अधिकार

हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस और सीनियर जस्टिस को समाचार पत्र में प्रकाशित खबरों को जनहित याचिका के रूप में स्वीकार कर सुनवाई का विशेष अधिकार है। इससे पूर्व शहर में भटकते मानसिक रोगियों की स्थिति को लेकर जस्टिस फखद्दीन ने समाचार पत्र में प्रकाशित खबर को जनह

next

मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर

31 Octoember 2014
रायपुर। सुकमा जिले के किस्टारम थाना क्षेत्र के पालचलमा में 21 अक्टूबर को हुए मुठभेड़ के बाद आंध्र सीमा पर चार नक्सलियों के मारे जाने की खबर है। हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो सकी है। नक्सल विरोधी अभियान के तहत सुकमा जिला मुख्यालय से कोबरा, सीआरपीएफ, डीआरजी व एसटीएफ की अलग-अलग पार्टियां विभिन्न इलाकों पर सर्चिग के लिए रवाना हुई थीं। इस दौरान पालचलमा के पास स्थित पहाड़ी में छिपे नक्सलियों ने पुलिस पर फायरिंग की। जवाब में फोर्स की ओर से भी गोली चलाई गई। घटना के बाद आंध्र सीमा पर चार नक्सलियों सोरी मासा, कवासी हुंगा, सोयम तोगा व पूनेम रत्तू के शव मिलने की खबर है।

चार ने डाले हथियार

इंद्रावती एरिया कमेटी के अंतर्गत जनमिलिशिया प्लाटून नंबर तीन के सेक्शन डिप्टी कमांडर पो़ि़डयामी लक्ष्मण [18] निवासी पोल्लेवाया एवं तीन महिला एलओएस सदस्यों ने गुरूवार को आईजी दफ्तर में अधिकारियों के समक्ष सरेंडर किया। लक्ष्मण ने एक 12 बोर की बंदूक , जिंदा ग्रेनेड एवं छह किलो आईईडी भी पुलिस के सुपुर्द किया।


रायगढ़ शहर में डेंगू ने पसारे पांव

31 Octoember 2014
रायगढ़। शहर सरकार के द्वारा सफाई में लापरवाही बरतने की वजह से डेंगू ने शहर में पांव पसार लिया है। यहीं कारण है कि शहरी क्षेत्र में ही अब तक9 लोग डेंगू से पीडि़त हो चुके हैं। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्र से दो लोग डेंगू से पीडि़त हैं।
स्वास्थ्य विभाग के द्वारा ही इन पीडि़तों का चिन्हांकन किया गया है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि यह बीमारी साफ-सफाई के अभाव में पनपती है। इधर नगर निगम के अधिकारी प्रतिदिन सफाई के नाम पर हजारों रुपए खर्च करने का दावा कर रही है।
डेंगू बीमारी से पीडि़त होने वाले लोगों पर गौर करे तो सबसे अधिक लाल टंकी क्षेत्र में रहने वाले लोग इसकी चपेट में आए हैं। सबसे पहला मरीज भी इसी क्षेत्र से सामने आया था। इस समय लोगों ने निगम के अधिकारियों को ज्ञापन सौंपते हुए क्षेत्र में सफाई कराए जाने की मांग की थी।
हालांकि लोगों के ज्ञापन मिलने के बाद निगम के अधिकारियों ने सफाई कराए जाने का आश्वासन दिया था, लेकिन पुराने ढर्रे पर ही सफाई होती रही। ऐसे में यह बीमारी थमने के बजाए फैलने लगी। यहीं वजह है कि इसकी संख्या बढ़ कर अब 11 पहुंच चुकी है। इसमें 9 मरीज शहरी क्षेत्र के ही हैं।


सीएम रमन सिंह ने शुरू किया देश का पहला ई-जनदर्शन

31 Octoember 2014
रायपुर। राज्य सरकार ने सीएम जनदर्शन को जनता के और करीब पहुंचाते हुए ई-जनदर्शन की शुरुआत गुरुवार से कर दी है। अब प्रदेश के लोग घर बैठे अपनी बात सीएम तक पहुंचा सकेंगे और सीएम उनका ऑनलाइन समाधान भी करेंगे। गूगल हैंग आउट के जरिए यह संभवत: देश का पहला ई-जनदर्शन है।
गुरुवार को पहले ई-जनदर्शन में मुख्यमंत्री ने प्रदेश के विभिन्न जिलों के करीब 50 लोगों से बात की। पहले जनदर्शन के लिए प्रदेश भर के लोगों से सोमवार तक रजिस्ट्रेशन करने को कहा गया था, रजिस्टर्ड लोगों को संबंधित जिले के कलेक्टरेट में बुलाया गया। सभी जिलों के कलेक्टरेट को जिन्हें सीएम ऑफिस के साथ गूगल हैंगआउट से जोडा गया जिसके बाद उन्होंने उनके साथ सीधी बात की। सीएम ने कहा कि आने वाले समय में इस सुविधा को और बेहतर बनाया जाएगा ताकि लोगो घर बैठे ही उनके साथ संवाद स्थापित कर सकें।

दुर्ग के छात्र ने पूछा पहला सवाल

ई-जनदर्शन में पहला सवाल दुर्ग जिले के इंजीनियरिंग छात्र कमल नारायण चंद्राकर ने पूछा। उनका सवाल था कि सरकार ने घोषणा की थी कि इंजीनियरिंग के छात्रों को लैपटॉप दिया जाएगा लेकिन अब तक नहीं मिला। कब तक मिलेगा? इस पर सीएम ने कहा कि इंजीनियरिंग और मेडिकल के छात्रों के लैपटॉप के लिए टेंडर की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। जैसे ही कंपनी लैपटॉप उपलब्ध कराती है छात्रों को दे दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि शासन इस कोशिश में है कि जल्द से जल्द छात्रों को लैपटॉप और टैबलेट दिए जाएंगे।

आठ साल से जारी है जनदर्शन

इस मौके पर सीएम डॉ रमन सिंह ने कहा कि वे पिछ्ले आठ साल से जनदर्शन के माध्यम से लोगों से प्रत्यक्ष मुलाकात करते आ रहे हैं, इसी में एक कडी और जोडते हुए उन्होंने ई-जनदर्शन की शुरुआत की है।उन्होंने कहा कि यह सुविधा खास तौर पर प्रदेश के दूरस्थ अंचल में रहने वाले नागरिकों के लिए शुरू की गई है। ताकि उन्हें सीएम तक अपनी बात पहुंचाने के लिए रायपुर तक का लम्बा सफर न करना पडे। इस नई सुविधा से प्रदेश के किसी भी कोने से लोग अपनी समस्याओं को सीएम के सामने रख सकेंगे, जिससे उन्हें रायपुर तक आने की जरूरत नहीं पड़ेगी और घर बैठे ही उनकी समस्या का समाधान हो जाएगा।

महीने में एक दिन होगा ई-जनदर्शन

मुख्यमंत्री ने कहा कि सीएम हाउस में हर गुरूवार को होने वाले जनदर्शन के माध्यम से उन्हें हजारों लोगों से मिलने का मौका मिलता है जिसे वे जारी रखेंगे। लेकिन अब वे महीने के तीन गुरूवार सीएम हाउस में लोगों से मिलेंगे और एक गुरूवार को ई-जनदर्शन के माध्यम से वे जनता से सीधा संवाद करेंगे।

विपक्ष ने कहा सामंती सोच का नतीजा है जनदर्शन

कुछ दिनों पहले जनदर्शन का विरोध करते हुए विपक्ष ने कहा था कि पुराने जमाने में राजा अपनी प्रजा से मिलने के लिए जनदर्शन रखवाते थे। लेकिन अब न कोई राजा है और न कोई प्रजा। सीएम का जनदर्शन उसी सामंती सोच का नतीजा है।


कल्लूरी के आईजी रहते नहीं हो सकती जांच: अग्निवेश

30 Octoember 2014
रायपुर। टीएमटीडी न्यायिक जांच आयोग के समक्ष गवाह लाने में असहयोग संबंधी मसले पर सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश ने कहा है कि बस्तर में जब तक एसआरपी कल्लूरी आईजी के रूप में पदस्थ हैं, तब तक प्रकरण की निष्पक्ष जांच नहीं हो सकती, ऐसे में सुनवाई के लिए गवाह भेजने का कोई औचित्य नहीं है। स्वामी ने बस्तर आईजी को पद से हटाने की मांग भी की है।
नईदुनिया में 30 अक्टूबर को प्रकाशित समाचार में जानकारी दी है कि स्वामी अग्निवेश द्वारा गवाह न भेजे जाने से प्रशासन परेशान है। इस संबंध में प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए अग्निवेश ने कहा है कि आईजी कल्लूरी न सिर्फ जांच प्रभावित कर सकते हैं, बल्कि जांच आयोग की विश्वसनीयता भी खराब कर सकते हैं।
उल्लेखनीय है कि जांच आयोग ने अग्निवेश को प्रभावित गांवों के 150 से अधिक लोगों की सूची देकर गवाही के लिए आयोग के समक्ष लाने का आग्रह किया था।
स्वामी अग्निवेश ने इस मामले में जुलाई में आयोग को लिखे पत्र में आयोग से मांग की थी कि बस्तर आईजी को हटाने की मांग की जाए, क्योंकि उनके रहते यह जांच ठीक तरह से नहीं हो पाएगी।


ट्रेलर ने बाइक को रौंदा ग्रामीणों ने घेरा थाना

30 Octoember 2014
कोरबा। दशगात्र में शामिल होने ढेलवाडीह जा रहे युवक की सड़क हादसे में मौत हो गई। घटना से नाराज लोगों ने दीपका थाना का घेराव कर दिया। बिना सूचना घटना स्थल से शव उठाने को लेकर हंगामा किया। गाड़ी मालिक से मुआवजे की मांग की। घटना दीपका- हरदीबाजार मार्ग पर ग्राम झिंगटपुर के पास हुई। बुधवार शाम ग्राम नावापारा निवासी कौशल कंवर 35, बाइक क्रमांक सीजी 12 एन 7825 से दशगात्र मे शामिल होने ढेलवाडीह जा रहा था। ग्राम झिंगटपुर के पास दीपका से हरदीबाजार की ओर जा रहे ट्रेलर ने बाइक को रौंद दिया। कौशल, सड़क पर गिर गया। मौके पर ही दम तोड़ दिया। इसकी मौत हो गई।
हादसे की सूचना मिलते ही ग्राम झिंगटपुर के लोग बड़ी संख्या में घटना स्थल पर पहुंच गए। इसमें महिलाएं अधिक थी। लोगों ने सड़क को जाम करने की कोशिश की, लेकिन मौके पर पहुंचकर पुलिस ने शव को उठा लिया। घटना की सूचना पर ग्राम नावापारा से भी कौशल के परिजन झिंगटपुर पहुंचे। यहां से दीपका थाना पहुंचे। परिजनों को सूचना दिए बिना घटना स्थल से शव उठाने पर नाराजगी जताते हुए थाना में जमकर हंगामा किया। मुआवजे की मांग को लेकर थाना का घेराव कर दिया।
सामाचार लिखे जाने तक ग्रामीण, गाड़ी मालिक से सहायता राशि दिलाने की मांग कर रहे थे। घेराव खत्म नहीं हुआ था। थाना प्रभारी ए कुजूर ने बताया कि पुलिस ने ट्रेलर क्रमांक सीजी 04ए 0501 को पकड़ लिया है। ट्रेलर थाना में खड़ी है। चालक फरार है। इसकी पतासाजी जारी है। पुलिस ने ट्रेलर चालक के खिलाफ जुर्म कर लिया है। कौशल, कंवर दंपति का एकलौता पुत्र था। हादसे की सूचना मिलते ही परिवार में शोक की लहर दौड़ गई।


समीरा से अमित जोगी का सही पता पूछा हाईकोर्ट ने

30 Octoember 2014
बिलासपुर. हाईकोर्ट ने मरवाही विधानसभा से पराजित प्रत्याशी समीरा पैकरा को मरवाही विधायक अमित जोगी का सही पता बताने के निर्देश दिए हैं। पूर्व में रायपुर स्थित अनुग्रह का पता बताया गया था। इस पते पर नोटिस तामील नहीं हो सका है। मरवाही से रिकाॅर्ड मतों से जीतकर विधायक बने अमित जोगी की भारतीय नागरिकता और जाति को भाजपा की पराजित प्रत्याशी समीरा पैकरा ने हाईकोर्ट में चुनौती दी है। प्रारंभिक सुनवाई के बाद अमित सहित नौ अन्य को नोटिस जारी किया गया था।
मरवाही से विधानसभा चुनाव लड़कर अमित जोगी से पराजित समीरा ने हाईकोर्ट में चुनाव याचिका लगाई है। इसमें कहा गया है कि विधानसभा चुनाव के लिए 26 अक्टूबर 2013 से 1 नवंबर २०13 तक नामांकन फाॅर्म भरे जाने थे। 2 नवंबर को नामांकन फाॅर्म की स्क्रूटनी हुई थी। कांग्रेस प्रत्याशी अमित जोगी ने 28 अक्टूबर को पेंड्रारोड तहसीलदार को जाति प्रमाण पत्र के लिए आवेदन दिया। तहसीलदार ने इसी दिन जांच पूरी करने के बाद पेंड्रारोड एसडीओ को रिपोर्ट सौंप दी।
एसडीओ ने 31 अक्टूबर को जाति प्रमाण पत्र जारी कर दिया। वहीं, अमित ने 30 अक्टूबर को अस्थाई जाति प्रमाण पत्र के साथ अपना नामांकन फाॅर्म जमा कर दिया था। नियमों के मुताबिक नामांकन फाॅर्म के साथ स्थाई जाति प्रमाण पत्र देना होता है। इसे लेकर जिला निर्वाचन अधिकारी से आपत्ति की गई थी, जो निरस्त कर दी गई। याचिका पर प्रारंभिक सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने मरवाही विधायक अमित सहित अन्य उम्मीदवारों सुमन सिंह वाकरे, तपेश्वर मरावी, डाॅ. उर्मिला मार्को, गजमती भानू, घासीराम वाकरे, थान सिंह, पंचम सिंह मेश्राम और बुधभान धुर्वे को नोटिस जारी किया था।
तीन बार नोटिस जारी करने के बाद भी अमित जोगी को नोटिस तामील नहीं हो सका है। पूर्व में बताए गए रायपुर के अनुग्रह के पते पर नोटिस लेने से इनकार कर दिया जाता है। बुधवार को सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने याचिकाकर्ता को अमित का सही पता बताने के निर्देश दिए।

अमेरिकी नागरिकतारद्द हुए बिना लड़ा चुनाव

याचिका में कहा गया है कि अमित के पास अमेरिकी नागरिकता है। भारत में दोहरी नागरिकता को मान्यता नहीं है, लिहाजा उन्हें चुनाव लड़ने से पहले अमेरिकी नागरिकता रद्द करवानी थी। लेकिन ऐसा नहीं किया गया। इसी तरह जोगी पर आपराधिक मामलों को लेकर भी गलत जानकारी देने का आरोप लगाया गया है।


झीरम घाटी जांच आयोग अब जगदलपुर में करेगा सुनवाई

29 Octoember 2014
रायपुर। बस्तर जिले में झीरम घाटी हत्याकांड की जांच के लिए राज्य शासन द्वारा गठित विशेष न्यायिक जांच आयोग के अध्यक्ष छत्ताीसगढ़ उच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति प्रशांत कुमार मिश्रा 30 और 31 अक्टूबर को जगदलपुर में सुनवाई करेंगे। सुनवाई आयोग के जगदलपुर कार्यालय [बस्तर संभाग आयुक्त कार्यालय परिसर] में होगी।
इससे पहले सुनवाई में नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने झीरम घाटी में कांग्रेस नेताओं की मौत के संबंध में अपनी बात रखी है। इसके पहले भी घटना में मौजूद कई प्रत्यक्षदर्शियों ने भी आयोग के सामने बात रख चुके हैं।


5 लाख की इनामी महिला माओवादी ने किया समर्पण, अंतागढ़ में दो पकड़े गए

29 Octoember 2014
बिलासपुर/कांकेर. पिछले नौ साल से बीजापुर इलाके में लाल आतंकी गतिविधियों में संलिप्त पांच लाख की इनामी महिला माओवादी शांति कुंजाम ने बुधवार को आईजी कार्यालय में समर्पण कर दिया। वह ग्रामीणों को माओवादी विचारधारा से जोडऩे का काम करती थी। दीपावली मनाने बीजापुर जिले के नेलसनार थानांतर्गत ग्राम कोडोली में घर आई शांति ने अपने भाई-बहन के समझाने पर माओवादी विचारधारा छोड़कर मुख्यधारा से जुडऩे का फैसला लिया। समर्पित महिला माओवादी को 2005 में मितूर कामांडर निर्मल इक्का ने संगठन से जोड़ा था। वहीं, कांकेर जिले के अंतागढ़ थानाक्षेत्र से सर्चिंग पर निकले डीएफ और बीएसएफ के जवानों ने ग्राम उपरकामता से दो माओवादी मंगउराम और रामधर को गिरफ्तार किया है।

पत्नी के चरित्र पर आरोप लगाने के बाद प्रमाणित नहीं करना क्रूरता: हाईकोर्ट

29 Octoember 2014
बिलासपुर. हाईकोर्ट के जस्टिस प्रशांत मिश्रा की बेंच ने एक महत्वपूर्ण फैसले में कहा है कि पत्नी के चरित्र और सत्यनिष्ठा पर गंभीर आरोप लगाने के बाद उसे प्रमाणित नहीं करना क्रूरता है। एक मामले में फैमिली कोर्ट पर सख्त टिप्पणी करते हुए कहा है कि कोर्ट ने मेंटेनेंस के लिए पत्नी की अर्जी पर दिए गए फैसले में गंभीर गलती की है। हाईकोर्ट ने पत्नी और बेटे को हर माह 5-5 हजार रुपए भरण-पोषण देने का आदेश दिया है।
रायगढ़ में रहने वाली महिला की शादी 25 अप्रैल 1988 को कोरबा दर्री के छत्तीसगढ़ इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड में नौकरी करने वाले भीष्म राम चंदरोसा से हुई थी। उनके तीन बच्चे हैं, इसमें बेटा लोकेश 18 वर्ष, बेटी मेघा 16 वर्ष और बेटा अंकित की उम्र 10 वर्ष है। महिला की छोटी बहन की शादी में उसके पिता ने दहेज में बाइक दी। इसके बाद से भीष्म राम ने पत्नी को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया और दहेज में डेढ़ लाख रुपए मांगने लगा। प्रताड़ना के चलते महिला का घर पर रहना मुश्किल हो गया। इसके बाद भीष्म राम पत्नी को रायगढ़ उसके मायके छोड़ आया। फिलहाल छोटा बेटा मां के साथ रहता है और दोनों बड़े बच्चे पिता के साथ हैं।
उधर, महिला ने खुद को और बेटे को भरण-पोषण देने की मांग को लेकर रायगढ़ की फैमिली कोर्ट में मामला दायर किया। कोर्ट ने इसे खारिज कर दिया। इसके खिलाफ महिला ने हाईकोर्ट में रिवीजन दाखिल की थी। मामले की सुनवाई जस्टिस प्रशांत मिश्रा की सिंगल बेंच में हुई। हाईकोर्ट ने फुलझर बसोर विरुद्ध मुन्नालाल के मामले में मध्यप्रदेश हाईकोर्ट द्वारा दिए गए आदेश का हवाला देते हुए कहा कि पत्नी के चरित्र और सत्यनिष्ठा पर आरोप लगाने के बाद उसे प्रमाणित नहीं करना क्रूरता के दायरे में आएगा।
ऐसे मामले में पत्नी भरण-पोषण पाने की हकदार होती है। हाईकोर्ट ने फैमिली कोर्ट के आदेश को रद्द करते हुए मां-बेटे को हर माह 5-5 हजार रुपए भरण-पोषण के रूप में देने का आदेश दिया है। यह राशि हर महीने की सातवीं तारीख तक देनी होगी। हाईकोर्ट ने 2007 से लेकर अब तक का एरियर्स भी छह किश्तों में देने का आदेश दिया है।


नक्सलियों का छात्रों पर पार्टी ज्वाइन करने का दबाव

28 Octoember 2014
रायपुर, दंतेवाड़ा। संगठन विस्तार के लिए नक्सली विद्यार्थियों पर पार्टी ज्वाइन करने का दबाव बनाते हैं। वे संवेदनशील इलाकों में संचालित सरकारी आश्रम-छात्रावासों में विद्यार्थियों से संपर्क करते हैं और बाद में उन पर संगठन में शामिल होने दबाव डालते हैं।
ताजा खुलासा आत्मसमर्पित जनमिलिशिया कमांडर सुखराम कावडे़ ने किया है। माड़ इलाके में नक्सलियों के उत्तर बस्तर डिवीजन में जनमिलिशिया कमांडर रह चुका 22 वर्षीय सुखराम नारायणपुर जिले के ओरछा ब्लाक के एक सरकारी छात्रावास में निवासरत रहते पढ़ाई कर रहा था। विद्यार्थी रहते ही सुखराम वषर्ष 2006 में नक्सलियों के संपर्क में आया था।
मीडिया से चर्चा में उसने बताया कि छात्रावास में रहते वह संगठन में शामिल हुआ था। फोर्स की गतिविधियों की जानकारी देने के साथ नक्सलियों के निर्देशानुसार सड़क खोदने, जवानों को जख्मी करने लोहे की सरिया गाड़ने जैसा काम किया करता था।
सुखराम के अनुसार उसके साथ कुछ और छात्र भी थे जिन्हें दबाव पूर्वक संगठन में शामिल कराया गया था।
सुखराम ने बताया कि समर्पण से पहले जनमिलिशिया कमांडर के रूप में नक्सली मिलिट्री प्लाटून, गांव आने वाले माओवादियों के लिए भोजन की व्यवस्था करना, संतरी ड्यूटी, बैठकों में नक्सली विचारधाराओं का प्रचार करना जैसी जिम्मेदारियां उस पर था। उसके मुताबिक वह पढ़कर शिक्षक बनना चाहता था, लेकिन नक्सलियों ने उसे पार्टी में ज्वाइन करने का दबाव बनाया। मजबूरन उसे यह रास्ता अपनाना पड़ा।
इस संबंध में एसपी कमलोचन कश्यप का कहना था कि संगठन विस्तार के उद्देश्य से नक्सली ऐसा करते है। वे ऐसे लड़कों को चुनते है जो उनके कार्यो को करने में दक्ष हो। फिलहाल सुखराम को पुर्नवास नीति का लाभ दिलाने के साथ उसकी पढ़ाई पूरी करवाने में पुलिस पूरा सहयोग करेगी।


जनसंपर्क अधिकारी के घर चोरी

28 Octoember 2014
कोरबा। लूटेरे और चोर पुलिस के नियंत्रण से बाहर हो गए हैं। प्रशासनिक अफसरों की कालोनी भी इनसे अछूती नहीं है। जनसंपर्क विभाग के उपसंचालक के घर में चोरों ने धावा बोला है। परिवार दीपावली की छुट्टी पर बिलासपुर गया हुआ था। सूने मकान से बर्तनों सहित अन्य सामान पार किया गया।
जिला जनसंपर्क विभाग के उपसंचालक पद पर बीएम तंबोली कार्यरत हैं। कलक्टोरेट के समीप प्रशासनिक अधिकारियों की कालोनी में इनका मकान स्थित है। बाजू में एसडीएम एवं सामने एडीएम का बंगला मौजूद है। तंबोली 22 अक्टूबर को दीपावली मनाने सहपरिवार बिलासपुर गए हुए थे। रविवार की रात 11 बजे इनकी वापसी हुई। घर में प्रवेश करते ही वे दंग रह गए। दो कमरों का पूरा सामान बिखरा पड़ा था। मकान के पीछे की खिड़की की सलाखें मुड़ी हुई थी। तंबोली को समझते देर नहीं लगी कि खिड़की से चोरों का प्रवेश हुआ। उन्होंने रात में ही इसकी सूचना रामपुर पुलिस चौकी को दी। पुलिस ने मकान पहुंचकर छानबीन की। सोमवार की सुबह चोरी की रिपोर्ट दर्ज की गई। तंबोली ने बताया कि घर से तांबे, पीतल के बर्तन सहित अन्य सामान चुराए गए हैं। इनकी कीमत करीब 30 हजार रुपए है। शुक्र था कि घर पर कोई महंगी वस्तु नहीं थी। चोर इसी मंशा से घर में घुसे थे। रामपुर पुलिस चोरी का मामला दर्ज कर चोरों की पतासाजी कर रही है।
पुलिस की मानें तो चोरी को आदतन चोरों ने अंजाम नहीं दिया है। चोरी करने और सामान चुराने के तरीके को देखकर यह बात कही गई है। चोर संबंधित क्षेत्र के हो सकते हैं।


टोनही कहकर मार डाली गई महिला और ग्रामीणों ने बताया पारिवारिक विवाद

28 Octoember 2014
भिलाई. टोनही कहकर मार डाली गई दुकलहिन के गांव के लोगों का कहना है कि उस पर ऐसा आरोप पहले कभी किसी ने नहीं लगाया। वह रोज गांव में घूम घूम कर सब्जी बेचती थी और लोग उससे सब्जी खरीदते थे। ग्रामीणों का कहना है कि घटना पारिवारिक विवाद के चलते हुई है। गांव के पंच कन्हैया साहू का कहना है कि दुकलहीन सब्जी बेचने का धंधा करती थी। पूरे गांव में रोज घूम-घूमकर सब्जी बेचती और लोग खरीदते भी थे। सभी से उसकी बातचीत थी। कभी किसी ने कोई आरोप नहीं लगाया।
गांव के कोटवार मोहनदास मानिकपुरी का भी ऐसा ही कहना है कि दुकलहीन को लेकर कभी किसी ने कोई आरोप नहीं लगाया। यह उनके परिवार के लोगों की आपस की लड़ाई है। पड़ोसी 76 वर्षीय गुहरी पटेल का कहना है कि इतने सालों से पड़ोस में हैं मगर दुकलहीन के बारे में कभी ऐसी कोई बात नहीं सुनी। दोपहर करीब तीन बजे बेमेतरा के प्रभारी एसपी एनके खरे खुद पूछताछ करने पंहुचे। उन्होंने मृतका की बहू मालती से घटना के बारे में पूछा तो जानकारी से साफ इंकार कर दिया। कहा कि वे घटना के समय घर में मौजूद नहीं थीं। बच्चों को लेकर बाहर गई हुई थी। गांववालों ने भी घटना पर अनभिज्ञता जाहिर करते हुए कहा कि शाम को गोठान में मातर महोत्सव हो रहा था। सब लोग देखने गए थे।
ग्राम पंचायत भटगांव का आश्रित गांव बंजारपुर करीब पचास परिवारों की बस्ती है। इनमें लगभग 35 परिवार तो पटेलों की ही है। बाकी दस-बारह गोड़ परिवार हैं। जिस पटेल परिवार में यह घटना हुई उनके यहां लोग ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं है। पूरे परिवार का गुजर बसर सब्जी बेचने और खेती-किसानी से ही होता है। गांव में शिक्षा का स्तर भी सामान्य है। स्कूल नहीं है। बच्चे भटगांव में पढ़ने जाते हैं। हालांकि गांव से स्कूल की दूरी एक किलोमीटर भी नहीं है।
पांच घंटे घर में कैद रखा : दुकलहीन पर बीमार रुपेंद्र पटेल को ठीक करने के लिए उनके देवर, देवरानी दबाव डाल रहे थे। उन्हें दोपहर साढ़े बारह बजे से लेकर शाम पांच बजे तक अपने घर में ही बैठाकर रखे थे। भीड़ उन्हें चारों तरफ से घेर रखी थी। रुपेंद्र को घर की परछी पर सुलाया गया था। दुकलहीन को उनके मुंह में पानी की दो बूंद डालकर ठीक करने कहा जा रहा था। दुकलहीन बार-बार गिड़गिड़ा रही थी कि उन्होंने कुछ नहीं किया। वे बीमार को कैसे ठीक कर सकती हैं। उनकी बात पर किसी ने यकीन नहीं किया। पांच घंटे तक यह तमाशा चलता रहा।

कोई बोलने का तैयार नहीं

दुकलहीन के घर के आसपास सन्नाटा पसरा था। सभी आरोपी जेल गए दुकलहीन की हत्या के आरोप में पकड़े गए सभी आरोपियों नकुल पटेल, अंकलहीन बाई, नंदकुमार, प्रदीप, गोपाल पटेल, सवाना बाई पटेल, विक्रम पटेल, राधा बाई, अहिल्या पटेल और तीजन बाई के खिलाफ आपीसी की धारा 147, 148, 149, 302 और छत्तीसगढ़ टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम की धारा 4, 5 के तहत अपराध दर्ज किया गया है। सभी अारोपियों को जेल भेज दिया गया है।


पुलिसकर्मी की हत्या के बाद नक्सलियों ने मांगी माफी

27 Octoember 2014
सुकमा। छत्तीसगढ़ के सुकमा में कुछ दिन पहले अवकाश पर जा रहे पुलिस कर्मी की तेमेलवाड़ा घाट में नक्सलियों ने हत्या कर दी थी। अब नक्सलियों ने पर्चे फेंककर इस घटना के लिए माफी मांगी है।
रविवार को फेंके गए पर्चे में दक्षिण बस्तर डिवीजन कमेटी सीपीआइ माओवादी की ओर से लिखा गया है कि 18 अक्टूबर को हमारे गुरिल्ला दस्ता के सदस्यों ने तेमेलवाड़ा गांव के पास शिवकुमार सिदार नाम के पुलिसकर्मी की हत्या कर दी थी। हमारी पार्टी की ओर से बिना अनुमति यह कार्रवाई हुई है जिसके लिए हम क्षमा चाहते हैं।
शिवकुमार बीमारी का इलाज कराने जा रहा था, जनता का दमन करने के लिए हथियार लेकर नहीं। ऐसे समय में उसे पकड़ कर मार डालना हमारी गलती है। पुलिस को भी आगाह किया जाता है कि निर्दोष ग्रामीणों से बेवजह दु‌र्व्यवहार न किया जाए। इससे पहले भी कई बार ग्रामीणों के साथ बुरा सुलूक किया जा चुका है।


79 हजार रुपए के नकली नोट जब्त, पांच गिरफ्तार

27 Octoember 2014
महासमुंद। जिला क्राइम ब्रांच ने नकली नोट खपाने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ किया है। 79 हजार के नकली नोट के साथ रविवार को पांच आरोपी पकड़े गए हैं। एक सप्ताह पहले बसना पुलिस ने नकली नोट खपाने के मामले में ओडिशा से चार लोगों को गिरफ्तार किया था। क्राइम ब्रांच की टीम को रविवार की सुबह मुखबिर से सूचना मिली कि भोरिंग के पास दो युवक नकली नोट खपाने की चर्चा कर रहे हैं। टीम ने हुलिया के आधार पर घेराबंदी कर गुखेरा आरंग के राजू उर्फ राजकुमार सोनवानी (22), तेंदूवाही तुमगांव के कमलेश सोनवानी (19) को पकड़ा। पूछताछ में दोनों ने बताया कि तेंदूवाही के मोतीलाल कोसले(27) ने उन्हें नोट दिए हैं। फिर क्राइम ब्रांच के जवानों ने मोतीलाल को पकड़कर पूछताछ की। उसने बताया कि गुखेरा, आरंग के जग्गा उर्फ जागेश्वर रात्रे (34) और राजू को 80 हजार के नकली नोट दिए थे। मोतीलाल ने पुलिस को रायपुर के न्यू राजेन्द्रनगर के डेविड वाल्टर उर्फ लिंकेन (34) से नकली नोट लाना बताया। पुलिस ने जागेश्वर को गुखेरा और डेविड को रायपुर में घेराबंदी कर उनके घरों से पकड़ा। पांचों आरोपियों से 79 हजार के नकली नोट जब्त किए गए। इसमें 1000 के 69 नोट, 500 के 20 नोट थे। तीन मोबाइल फोन भी जब्त किए गए।

हुदहुद तूफान से टमाटर हुआ तबाह

27 Octoember 2014
रायपुर | हुदहुद तूफान ने टमाटर की फसल को भारी नुकसान पहुंचाया है। बाजार में टमाटर के दाम भले ही 20 रुपए है, लेकिन दाग लगे टमाटर को कोचिए एक रुपए किलो में भी नहीं खरीद रहे। दुर्ग जिले के धमधा मंडी में टमाटर नहीं बिके तो किसानों ने उन्हें वहीं फेंक दिया। किसानों के इस नुकसान पर सरकार न तो कोई सर्वे करा रही है और न ही कोई मुआवजा दे रही है।

नीलोफर से आई नमी

हुदहुद तूफान 12 दिन पहले जा चुका है। अब तूफान नीलोफर खतरे की आशंका बढ़ा रहा है। तूफान के असर और पूर्वी उत्तरप्रदेश में ऊपरी हवा में बने चक्रवात के कारण पूरे छत्तीसगढ़ में पिछले दो दिनों से बदली और बूंदाबांदी हो रही है। कृषि विशेषज्ञों के अनुसार इससे फसलों और सब्जियों पर खासा असर तो नहीं पड़ रहा है, लेकिन अचानक मौसम बदलने से लोगों की रूटीन प्रभावित हुई है। अगले 24 घंटे बाद यानी सोमवार को दोपहर बाद से मौसम खुलने की संभावना जताई जा रही है।

आज दोपहर बाद खुल सकता है मौसम

5 दिन में 6 डिग्री गिरा दिन का पारा

पांच दिन में राजधानी में दिन का तापमान लगभग छह डिग्री गिर गया है। 22 अक्टूबर को राजधानी में दिन का तापमान 32 डिग्री के आसपास था। 23 तारीख से बादल छाने लगे। तब से रविवार तक तापमान में लगभग छह डिग्री की गिरावट आ गई। रविवार को दिन का अधिकतम तापमान 25.8 डिग्री दर्ज किया गया। वहीं न्यूनतम 19.8 डिग्री रहा।

तपिश होगी कम, बढ़ेगी ठंड

मौसम खुलते ही सूरज की तपिश कम होने लगेगी। मौसम विभाग के अनुसार भले ही तापमान में ज्यादा अंतर न आए, लेकिन उत्तर-पूर्व से हवा आने के कारण मौसम में ठंड धीरे-धीरे बढ़ने लगेगी।


मीटर शिफ्टिंग घोटाले में अफसरों पर भी गिरेगी गाज

25 Octoember 2014
रायपुर। बिलासपुर में हुए मीटर शिफ्टिंग घोटाले में फंसे बड़े अफसरों पर भी विभागीय कार्रवाई की गाज गिर सकती है। छत्तीसगढ़ विद्युत वितरण कंपनी इस पूरे मामले की सूक्ष्म जांच करा रही है। सूक्ष्म जांच के बाद इस मामले में दोषी बड़े अफसरों पर भी कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। फिलहाल कंपनी ने इस मामले में दोषी 14 कर्मचारियों निलंबित कर दिया है। वहीं अधीक्षण अभियंताओं को उनके अधीनस्थ कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करने के साथ ही पूरी रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है।
बिलासपुर रीजन में मीटर शिफ्टिंग के नाम पर हुए घोटाले से बिजली कंपनी में हड़कंप मचा हुआ है। घोटाले की रकम करीब 10 करोड़ से अधिक होने का अनुमान लगाया जा रहा है। यही वजह है कि कंपनी ने पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच शुरू कर दी है। फिलहाल प्रारंभिक रिपोर्ट मुख्यालय भेज दी गई है। कंपनी ने इस घोटाले में बड़े अफसरों के हाथ होने से इंकार नहीं किया है। यही वजह है कि पूरे मामले की सूक्ष्म जांच कर मामले में दोषी अफसरों के खिलाफ भी सबूत जुटाए जा रहे हैं।

यह है मामला:

विभागीय सूत्रों के मुताबिक बिलासपुर रीजन के तहत आने वाले सेंटर कोरबा, बिलासपुर, मुंगेली, जशपुर, जांजगीर चांपा, रायगढ़ में ठेकेदारों को मीटर शिफ्टिंग करना था लेकिन कई ठेकेदारों ने मीटर शिफ्ट ही नहीं किया और अफसरों के साथ मिलकर फर्जी बिलों के माध्यम से राशि का भुगतान करा लिया गया है। इस मामले में करीब 10 करोड़ का घोटाला होने का अनुमान लगाया जा रहा है। बताते हैं कि अभी तक की जांच में करीब 2.50 करोड़ का मामला उजागर हो चुका है।
पूरे मामले में जो भी संलिप्त होंगे, उन पर कंपनी विभागीय कार्रवाई करेगी। इस मामले की सूक्ष्म जांच कराई जा रही है। रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई होगी। -सुबोध सिंह, प्रबंध निदेशक, छत्तीसगढ़ विद्युत वितरण कंपनी


सेना की वर्दी में आया और बैंक के अंदर ठगी कर चलता बना

25 Octoember 2014
बिलासपुर। एक व्यक्ति सेना की वर्दी में आकर बैंक के अंदर एक ग्राहक को लूट कर चला गया और अब पुलिस उसकी तलाश कर रही है।
जानकारी के अनुसार शहर के कलेक्टोरेट स्थित एसबीआई की शाखा में एक व्यक्ति रामानंद पटेल बैंक में 45 हजार रुपये जमा करने के लिए आया था। इसी बीच सेना की वर्दी में एक आदमी बैंक में आया और रामानंद से कहा कि अगर उसे पैसे जल्दी जमा करवाने है तो वह मदद कर सकता है। रामानंद तैयार हो गया और उसे बैंक का गार्ड समझकर पर्ची दे दी।
वर्दी में आया व्यक्ति काउंटर पर गया जहां से वह बैंक के अंदर चला गया। करीब डेढ़ घंटा इंतजार करने के बाद भी जब वह आर्मी की वर्दी पहने व्यक्ति वापस नहीं आया तो रामानंद अंदर गया जहां उसे वह व्यक्ति नजर नहीं आया। उसके बाद उस व्यक्ति की तलाश शुरू हुई और जब वह किसी को नहीं मिला तो पुलिस को सूचना दी गई।
सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और सीसीटीवी कैमरों के आधार पर आरोपी की पहचान जुटाने में लग गई।


रायपुर में 14 जगह मिलेगा रेलवे रिजर्वेशन टिकट

25 Octoember 2014
रायपुर. रेल यात्रियों को अब राजधानी में 14 स्थानों से रिजर्वेशन टिकट मिलेगा। इनमें स्टेशन रोड, शंकर नगर, अग्रसेन चौक, टाटीबंध, आमानाका, तेलीबांधा, खमतराई, राजेंद्र नगर, डीडी नगर, पंडरी, मोवा, देवेंद्र नगर, सुंदर नगर और मालवीय रोड जैसे इलाके शामिल हैं। रिजर्वेशन काउंटर टिकट सुविधा केंद्र के नाम से खोले जाएंगे। इन केंद्रों के दिए जाने वाले टिकट का रंग लाल रहेगा।
इन केंद्रों के लिए रायपुर मंडल जल्द ही टेंडर जारी करेगा। बिलासपुर जोन ने रायपुर रेल मंडल को इस संबंध में तैयारी करने का निर्देश भेजा है। सुविधा केंद्र का लाइसेंस ऐसे ही लोगों को दिया जाएगा, जिन्हें ई-टिकटिंग के मामले में रेलवे के साथ काम करने का पांच साल का अनुभव हो। चूंकि जोन में रायपुर स्टेशन से यात्रा करने वालों की संख्या राज्य में सबसे ज्यादा है, इसलिए यह योजना पहले यहीं लागू की जा रही है। रेलवे ऐसे लोगों को टिकट बुक करने का लाइसेंस देगा, जिन्हें ई-टिकटिंग के क्षेत्र में कम से कम पांच वर्ष का अनुभव हो।
सब पीपीपी मोड में: आरक्षण व सामान्य टिकट सुविधा केंद्र (वायटीएसके) पीपीपी अर्थात पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मोड के तहत खोले जाएंगे। अर्थात, ये केंद्र निजी लोगों के हाथों संचालित होंगे, जिसमें हर टिकट पर केंद्र चलाने वालों को रेलवे निर्धारित शुल्क भी देगा। रेलवे बोर्ड ने सभी नियम व शर्तों के साथ तीन साल के लिए वायटीएसके के लिए लाइसेंस देगा।
40 रु. तक एक्सट्रा चार्ज : इन सुविधा केंद्रों से टिकट लेने वालों को 30 से 40 रुपए तक अतिरिक्त देने पड़ सकते हैं। सेकेंड व स्लीपर क्लास के लिए प्रति यात्री 30 रुपए लिए जाएंगे। शेष श्रेणियों के लिए प्रति टिकट संबंधित यात्री को 40 रुपए देने होंगे। यह शुल्क रेलवे ही वसूलेगा, ताकि उसकी आय भी बढ़े और सुविधा केंद्र संचालित करनेवालों को उसी में से पेमेंट किया जा सके।
सुबह 9 से रात 10 तक: वायटीएसके में यात्रियों को सुबह 9 से रात 10 बजे तक आरक्षण व सामान्य टिकट मिल सकेगा। रेलवे की ओर से तत्काल टिकट के लिए यहां सुबह 11 बजे का समय तय किया है। हालांकि तत्काल टिकट बुकिंग का रेलवे पीआरएस में सुबह 10 से दोपहर 12 बजे तक का है। यात्रियों की डिमांड को देखते हुए बाद में सुविधा केंद्र पर भी तत्काल का समय बढ़ाया जाएगा।

क्रिस बनाएगा साफ्टवेयर

सुविधा केंद्र को आरक्षण टिकट का लिंक देने के लिए रेलवे अलग से साफ्टवेयर तैयार कर रहा है। रेलवे सूचना केंद्र अर्थात क्रिस को इसकी जिम्मेदारी दी गई है। देशभर में सुविधा केंद्र खुलने के बाद रेलवे को मजबूत साफ्टवेयर विकसित करना होगा। रेलवे बोर्ड ने इसके लिए सभी तरह की जरूरी सुधार के लिए क्रिस को जिम्मेदारी सौंप दी है।

क्यों पड़ी जरूरत

पिछले 10 साल में यात्रियों का रुझान ई-टिकटिंग की ओर विशेष तौर से बढ़ा है। वर्तमान में 40 से 50 प्रतिशत रेलवे का आरक्षण टिकट इंटरनेट के माध्यम से बन रहा है। इसके लिए आईआरसीटीसी ने समय-समय पर यात्रियों को कई सुविधाएं भी दी है। ई-टिकटिंग के बढ़ते प्रतिशत ने रेलवे को पुरानी व्यवस्था बदलने पर मजबूर किया है। ऐसे में पीआरएस पर घंटों इंतजार के बाद यात्रियों को टिकट मिलने से छुटकारा दिलाने के लिए ही रेलवे ने वायटीएसके की योजना शुरू करने का निर्णय लिया है।


मीटर शिफ्टिंग घोटाले में अफसरों पर भी गिरेगी गाज

25 Octoember 2014
रायपुर। बिलासपुर में हुए मीटर शिफ्टिंग घोटाले में फंसे बड़े अफसरों पर भी विभागीय कार्रवाई की गाज गिर सकती है। छत्तीसगढ़ विद्युत वितरण कंपनी इस पूरे मामले की सूक्ष्म जांच करा रही है। सूक्ष्म जांच के बाद इस मामले में दोषी बड़े अफसरों पर भी कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। फिलहाल कंपनी ने इस मामले में दोषी 14 कर्मचारियों निलंबित कर दिया है। वहीं अधीक्षण अभियंताओं को उनके अधीनस्थ कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करने के साथ ही पूरी रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है।
बिलासपुर रीजन में मीटर शिफ्टिंग के नाम पर हुए घोटाले से बिजली कंपनी में हड़कंप मचा हुआ है। घोटाले की रकम करीब 10 करोड़ से अधिक होने का अनुमान लगाया जा रहा है। यही वजह है कि कंपनी ने पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच शुरू कर दी है। फिलहाल प्रारंभिक रिपोर्ट मुख्यालय भेज दी गई है। कंपनी ने इस घोटाले में बड़े अफसरों के हाथ होने से इंकार नहीं किया है। यही वजह है कि पूरे मामले की सूक्ष्म जांच कर मामले में दोषी अफसरों के खिलाफ भी सबूत जुटाए जा रहे हैं।

यह है मामला:

विभागीय सूत्रों के मुताबिक बिलासपुर रीजन के तहत आने वाले सेंटर कोरबा, बिलासपुर, मुंगेली, जशपुर, जांजगीर चांपा, रायगढ़ में ठेकेदारों को मीटर शिफ्टिंग करना था लेकिन कई ठेकेदारों ने मीटर शिफ्ट ही नहीं किया और अफसरों के साथ मिलकर फर्जी बिलों के माध्यम से राशि का भुगतान करा लिया गया है। इस मामले में करीब 10 करोड़ का घोटाला होने का अनुमान लगाया जा रहा है। बताते हैं कि अभी तक की जांच में करीब 2.50 करोड़ का मामला उजागर हो चुका है।
पूरे मामले में जो भी संलिप्त होंगे, उन पर कंपनी विभागीय कार्रवाई करेगी। इस मामले की सूक्ष्म जांच कराई जा रही है। रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई होगी। -सुबोध सिंह, प्रबंध निदेशक, छत्तीसगढ़ विद्युत वितरण कंपनी


सेना की वर्दी में आया और बैंक के अंदर ठगी कर चलता बना

25 Octoember 2014
बिलासपुर। एक व्यक्ति सेना की वर्दी में आकर बैंक के अंदर एक ग्राहक को लूट कर चला गया और अब पुलिस उसकी तलाश कर रही है।
जानकारी के अनुसार शहर के कलेक्टोरेट स्थित एसबीआई की शाखा में एक व्यक्ति रामानंद पटेल बैंक में 45 हजार रुपये जमा करने के लिए आया था। इसी बीच सेना की वर्दी में एक आदमी बैंक में आया और रामानंद से कहा कि अगर उसे पैसे जल्दी जमा करवाने है तो वह मदद कर सकता है। रामानंद तैयार हो गया और उसे बैंक का गार्ड समझकर पर्ची दे दी।
वर्दी में आया व्यक्ति काउंटर पर गया जहां से वह बैंक के अंदर चला गया। करीब डेढ़ घंटा इंतजार करने के बाद भी जब वह आर्मी की वर्दी पहने व्यक्ति वापस नहीं आया तो रामानंद अंदर गया जहां उसे वह व्यक्ति नजर नहीं आया। उसके बाद उस व्यक्ति की तलाश शुरू हुई और जब वह किसी को नहीं मिला तो पुलिस को सूचना दी गई।
सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और सीसीटीवी कैमरों के आधार पर आरोपी की पहचान जुटाने में लग गई।


रायपुर में 14 जगह मिलेगा रेलवे रिजर्वेशन टिकट

25 Octoember 2014
रायपुर. रेल यात्रियों को अब राजधानी में 14 स्थानों से रिजर्वेशन टिकट मिलेगा। इनमें स्टेशन रोड, शंकर नगर, अग्रसेन चौक, टाटीबंध, आमानाका, तेलीबांधा, खमतराई, राजेंद्र नगर, डीडी नगर, पंडरी, मोवा, देवेंद्र नगर, सुंदर नगर और मालवीय रोड जैसे इलाके शामिल हैं। रिजर्वेशन काउंटर टिकट सुविधा केंद्र के नाम से खोले जाएंगे। इन केंद्रों के दिए जाने वाले टिकट का रंग लाल रहेगा।
इन केंद्रों के लिए रायपुर मंडल जल्द ही टेंडर जारी करेगा। बिलासपुर जोन ने रायपुर रेल मंडल को इस संबंध में तैयारी करने का निर्देश भेजा है। सुविधा केंद्र का लाइसेंस ऐसे ही लोगों को दिया जाएगा, जिन्हें ई-टिकटिंग के मामले में रेलवे के साथ काम करने का पांच साल का अनुभव हो। चूंकि जोन में रायपुर स्टेशन से यात्रा करने वालों की संख्या राज्य में सबसे ज्यादा है, इसलिए यह योजना पहले यहीं लागू की जा रही है। रेलवे ऐसे लोगों को टिकट बुक करने का लाइसेंस देगा, जिन्हें ई-टिकटिंग के क्षेत्र में कम से कम पांच वर्ष का अनुभव हो।
सब पीपीपी मोड में: आरक्षण व सामान्य टिकट सुविधा केंद्र (वायटीएसके) पीपीपी अर्थात पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मोड के तहत खोले जाएंगे। अर्थात, ये केंद्र निजी लोगों के हाथों संचालित होंगे, जिसमें हर टिकट पर केंद्र चलाने वालों को रेलवे निर्धारित शुल्क भी देगा। रेलवे बोर्ड ने सभी नियम व शर्तों के साथ तीन साल के लिए वायटीएसके के लिए लाइसेंस देगा।
40 रु. तक एक्सट्रा चार्ज : इन सुविधा केंद्रों से टिकट लेने वालों को 30 से 40 रुपए तक अतिरिक्त देने पड़ सकते हैं। सेकेंड व स्लीपर क्लास के लिए प्रति यात्री 30 रुपए लिए जाएंगे। शेष श्रेणियों के लिए प्रति टिकट संबंधित यात्री को 40 रुपए देने होंगे। यह शुल्क रेलवे ही वसूलेगा, ताकि उसकी आय भी बढ़े और सुविधा केंद्र संचालित करनेवालों को उसी में से पेमेंट किया जा सके।
सुबह 9 से रात 10 तक: वायटीएसके में यात्रियों को सुबह 9 से रात 10 बजे तक आरक्षण व सामान्य टिकट मिल सकेगा। रेलवे की ओर से तत्काल टिकट के लिए यहां सुबह 11 बजे का समय तय किया है। हालांकि तत्काल टिकट बुकिंग का रेलवे पीआरएस में सुबह 10 से दोपहर 12 बजे तक का है। यात्रियों की डिमांड को देखते हुए बाद में सुविधा केंद्र पर भी तत्काल का समय बढ़ाया जाएगा।

क्रिस बनाएगा साफ्टवेयर

सुविधा केंद्र को आरक्षण टिकट का लिंक देने के लिए रेलवे अलग से साफ्टवेयर तैयार कर रहा है। रेलवे सूचना केंद्र अर्थात क्रिस को इसकी जिम्मेदारी दी गई है। देशभर में सुविधा केंद्र खुलने के बाद रेलवे को मजबूत साफ्टवेयर विकसित करना होगा। रेलवे बोर्ड ने इसके लिए सभी तरह की जरूरी सुधार के लिए क्रिस को जिम्मेदारी सौंप दी है।

क्यों पड़ी जरूरत

पिछले 10 साल में यात्रियों का रुझान ई-टिकटिंग की ओर विशेष तौर से बढ़ा है। वर्तमान में 40 से 50 प्रतिशत रेलवे का आरक्षण टिकट इंटरनेट के माध्यम से बन रहा है। इसके लिए आईआरसीटीसी ने समय-समय पर यात्रियों को कई सुविधाएं भी दी है। ई-टिकटिंग के बढ़ते प्रतिशत ने रेलवे को पुरानी व्यवस्था बदलने पर मजबूर किया है। ऐसे में पीआरएस पर घंटों इंतजार के बाद यात्रियों को टिकट मिलने से छुटकारा दिलाने के लिए ही रेलवे ने वायटीएसके की योजना शुरू करने का निर्णय लिया है।


कांग्रेस बनाएगी आर्थिक नाकेबंदी की रणनीति

22 Octoember 2014
रायपुर। प्रदेश में धान खरीदी नीति का कांग्रेस विरोध कर रही है। इसके तहत प्रदेशभर में धरना-प्रदर्शन किया जा रहा है। इसी कड़ी में कांग्रेस ने 1 नवंबर को आर्थिक नाकेबंदी करने की घोषणा की है। इस पर रणनीति बनाने के लिए 27 अक्टूबर को एक महत्वपूर्ण बैठक होगी। बैठक में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल और नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव सहित कांग्रेस पदाधिकारी और कार्यकर्ता मौजूद रहेंगे।
राज्य सरकार किसानों से इस वषर्ष 10 क्विंटल धान की खरीदी कर रही है। इसके लिए किसानों का पंजीयन भी कराया जा रहा है। वहीं धान खरीदी 1 नवंबर के बजाय इस वर्ष 1 दिसंबर से धान खरीदी शुरू की जा रही है। राज्य सरकार के इस फैसले का कांग्रेस विरोध कर रही है। कांग्रेस ने धान खरीदी की व्यवस्था पहले जैसे करने और किसानों का एक एक दाना धान खरीदने की मांग की है। इस मांग को लेकर कांग्रेस ने आंदोलन का आगाज कर दिया है।
कांग्रेस ने 1 नवंबर को प्रदेश भर में आर्थिक नाकेबंदी करने जा रही है। इस आर्थिक नाकेबंदी के तहत राष्ट्रीय और राज्य मार्ग में चक्काजाम किया जाएगा। इस आंदोलन से प्रदेश की सीमा में कोई भी वाहन प्रवेश नहीं कर सकेगा। वहीं दूसरे जिलों में भी वाहनों की आवाजाही पूरी तरह बंद हो जाएगी।
आर्थिक नाकेबंदी के जरिए कांग्रेस राज्य सरकार को धान खरीदी की व्यवस्था में परिवर्तन करने की मांग करेगी। इसके बाद भी मांगें पूरी नहीं होने पर उग्र आंदोलन किया जाएगा। कांग्रेस भवन में होने वाली बैठक में इसी मुद्दे पर चर्चा कर रणनीति बनाई जाएगी।
कांग्रेस ने पिछले दिनों जगदलपुर में बैठक लेकर दिशा निर्देश दिया है। वहीं राजधानी में होने वाली बैठक में रायपुर और दुर्ग संभाग के पदाधिकारी और कार्यकर्ता मौजूद रहेंगे। इसके बाद बिलासपुर और सरगुजा में आर्थिक नाकेबंदी को लेकर बैठक होगी।

सदस्यता अभियान और निकाय चुनाव

बैठक में सदस्यता अभियान की समीक्षा की जाएगी। पार्टी सूत्रों के मुताबिक श्री बघेल और श्री सिंहदेव ने जब कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी सदस्यता अभियान में कांग्रेस संविधान का पालन करने का निर्देश दिया था। पार्टी हाईकमान से मिले दिशा निर्देश की भी जानकारी कांग्रेस पदाधिकारियों को दी जाएगी। इसके अलावा नगरीय निकाय चुनाव को लेकर भी चर्चा की जाएगी और प्रभारियों से चर्चा कर अब के तैयारियों की रिपोर्ट ली जाएगी।


कथेरिया छत्तीसगढ़ भाजपा के प्रभारी

22 Octoember 2014
जगदलपुर। भाजपा ने हरियाणा और महाराष्ट्र चुनाव के बाद संगठन में बड़ा फेरबदल किया है। भाजपा सांसद डॉ. रामशंकर कथेरिया को छत्तीसगढ़ का प्रभारी बनाया गया है। वे जगतप्रकाश नड्डा का स्थान लेंगे।
नड्डा को पार्टी आलाकमान ने इस बार महाराष्ट्र और राजस्थान का प्रभारी बनाया है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कुछ दिन पहले ही कथेरिया को राष्ट्रीय महासचिव बनाया था और अब उन्हें छत्तीसगढ़ की जिम्मेदारी दी गई है। 49 वर्षीय कथेरिया आगरा से दूसरी बार सांसद बने हैं। राजनीति में आने से पहले वह प्रोफेसर थे। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने टीम के कामकाज का बंटवारा करते हुए राज्य प्रभारियों का ऎलान किया है।
पार्टी शासित राज्यों में अनुभवी नेताओं को संगठन का प्रभार दिया गया है तो संगठन की जड़ें मजबूत करने के मकसद से गैर भाजपा शासित राज्यों की कमान युवाओं के हाथ सौंपी है। महासचिव जे.पी.नड्डा को राजस्थान और महाराष्ट्र का प्रभारी बनाया गया है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए भाग्यशाली साबित हो रहे राजस्थान के नेता ओमप्रकाश माथुर को उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाया गया है। यहां लोकसभा में बेहतर प्रदर्शन करने के बाद पार्टी की नजर वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव पर है। बिहार की ओबीसी राजनीति को साधने के मकसद से राजस्थान के दूसरे नेता भूपेंद्र यादव को सूबे का प्रभारी बनाया गया है।


दशकों बाद अब अरपा बैराज का काम शुरू हो सकेगा

22 Octoember 2014
बिलासपुर. छत्तीसगढ़ की सबसे बड़ी सिंचाई परियोजना अरपा-भैंसाझार बराज के रास्ते की बड़ी बाधा दूर हो गई है। प्रोजेक्ट को नई दिल्ली में फॉरेस्ट एडवाइजरी कमेटी (एफएसी) की बैठक में स्टेज-1 का फॉरेस्ट क्लीयरेंस दे दिया गया है। मंजूरी के दस्तावेज पखवाड़ेभर के भीतर जल संसाधन विभाग को मिल जाएंगे। फायदा यह कि सिंचाई विभाग बराज के स्ट्रक्चर का काम शुरू कर सकेगा। अब स्टेज-2 की महज औपचारिक प्रक्रिया बाकी है।
606 करोड़ रुपए की लागत वाली अरपा-भैंसाझार बराज परियोजना के फॉरेस्ट क्लीयरेंस का मामला वर्षों से लंबित था। केंद्र में भाजपा की सरकार बनते ही छत्तीसगढ़ की योजनाओं से जुड़ी फाइलों की मूवमेंट दिल्ली में तेज हुई। राज्य शासन ने बराज की उपयोगिता को ध्यान में रखकर बजट में 100 करोड़ का प्रावधान किया था और इसकी नहरों का निर्माण 16 सितंबर 2013 को शुरू करवाया।
फॉरेस्ट क्लीयरेंस मिलने के बाद अब बराज के स्ट्रक्चर का काम शुरू करवाया जा सकेगा। जल संसाधन विभाग के अधीक्षण अभियंता विजय कुमार श्रीवास्तव के मुताबिक, 13 अगस्त को वन एवं पर्यावरण मंत्रालय में उन्होंने बराज परियोजना का प्रेजेंटेशन दिया था। उसी समय क्लीयरेंस मिलना तय हो गया था। एफएसी ने बराज से जुड़ी कुछ और जानकारी मांगी थी। इनके साथ सोमवार को दोबारा इसका डेमो किया गया।

पौधे लगाने के लिए सिंचाई विभाग देगा 40 करोड़

स्टेज-1 का क्लीयरेंस के बाद जल संसाधन विभाग अब बराज की जद में आने वाले पेड़ों की कटाई कर सकेगा। इनकी तुलना में दोगुने क्षेत्र में पौधे लगाने के लिए उसे करीब 40 करोड़ रुपए जमा करने होंगे। यह राशि कैंपा मद में जमा की जाएगी। क्लीयरेंस नहीं मिलने से बराज के स्ट्रक्चर के बजाय नहरों का काम शुरू करना पड़ा था। अब मूल काम शुरू करवाने में कोई बाधा नहीं रहेगी।

सिंचाई का राष्ट्रीय औसत पार कर लेगा हमारा जिला

अरपा-भैंसाझार बराज जिले के कोटा क्षेत्र के भैंसाझार गांव के पास अरपा नदी में बनाया जाएगा। इस योजना से कोटा सहित तखतपुर, बिल्हा के 92 गांवों के 96,930 किसानों के 62,500 एकड़ खेतों की सिंचाई होगी। सबसे बड़ी उपलब्धि यह कि बराज बनने से जिले में सिंचाई का प्रतिशत 39 से बढ़कर 49.27 हो जाएगा। यह सिंचाई के राष्ट्रीय औसत 49 फीसदी से अधिक होगा।


ग्रामीणों ने तीन नक्सलियों को मौत के घाट उतारा

21 Octoember 2014
रायपुर। छत्तीसगढ़ के सीमावर्ती ओडिशा व तेलंगाना के सीमा पर स्थित चिंतापल्ली थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम कोरगुण्डा में सोमवार की सुबह नक्सलियों द्वारा जन अदालत लगाकर एक ग्रामीण संजीव राव [24] निवासी भीमावरम की हत्या के बाद गुस्साए ग्रामीणों ने नक्सली कमांडर समेत तीन नक्सलियों की लाठी और डंडे से पीट-पीटकर हत्या कर दी। उत्तेजित ग्रामीणों ने नक्सलियों की एके 47 रायफल भी छीनकर नष्ट कर दी। घटना की आधिकारिक पुष्टि नहीं हो सकी है। पुलिस सूत्रों के अनुसार ओडिशा के मलकानगिरी जिले के चित्रकोण्डा थाना से करीब 7 किमी दूर तेलंगाना के चिंतापल्ली थाना क्षेत्र के ग्राम कोरगुंडा पहाड़ी पर नक्सलियों ने जन अदालत लगाई थी। जनअदालत में आसपास के ग्रामीणों को बुलाकर संजीव राव को बाक्साइट खनन का समर्थक बताकर बयानबाजी करने का आरोप लगाया गया। बताया गया है कि वहां हो रहे बाक्साइट उत्खनन का नक्सली विरोध कर रहे थे। नक्सलियों ने उसकी गोली मारकर हत्या कर दी। इससे जन अदालत में मौजूद ग्रामीण उत्तेजित हो गए। वहां मौजूद सैकड़ों ग्रामीणों ने नक्सली नेताओं एरिया कमांडर गणपति, ज्ञानेश्वर राव एवं चिंता रंगा राव को पकड़कर उनकी लाठी, डंडे से पीट-पीटकर हत्या कर दी। नक्सलियों को मौत के घाट उतारने के बाद ग्रामीणों ने उनकी रायफल भी नष्ट कर दी। ग्रामीणों के तीखे तेवर देख शेष नक्सली वहां से भाग खडे़ हुए।

चुनिंदा कांग्रेसी ही पहुंच सके राहुल तक

21 Octoember 2014
जगदलपुर। कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी सोमवार को हुदहुद प्रभावित ओडि़शा के लिए जगदलपुर होते हुए रवाना हुए। सुबह चार्टर प्लेन से यहां पहुंचने के बाद वे सेना के हेलीकॉप्टर में ओडि़शा रवाना हुए। इस दौरान उनके साथ सीमांध्र के कांग्रेस प्रभाारी और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह भाी पहुंचे। यहां एयरस्ट्रीप में हेलीकाप्टर से जब राहुल आेडिशा के लिए रवाना हुए तो ओडिशा और छग के कांग्रेस प्रभाारी बीके हरिप्रसाद उनके साथ रवाना हुए। एनएसजी की कड़ी सुरक्षा में पहुंचे राहुल के स्वागत का चुनिंदा कांग्रेसियों को ही मौका मिल सका। जिला कांग्रेस कमेटी द्वारा तय ३६ कांग्रेसियों को एयरपोर्ट में प्रवेश मिला। एयरपोर्ट पर करीब २० मिनट रुकने के बाद राहुल व बीके हरिप्रसाद कोरापुट की ओर रवाना हो गए, जबकि राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह जगदलपुर में ही ठहरे। दोपहर बाद राहुल वापस पहुंचे और दिग्विजय सिंह, बीके हरिप्रसाद के साथ दिल्ली के लिए रवाना हो गए। राहुल के प्रवास को लेकर प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल, नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव, कोषाध्यक्ष रामगोपाल अग्रवाल, प्रतिमा चंद्राकर, अरुण भाद्र, राजेश तिवारी, विधायक कवासी लभामा, देवती कर्मा, दीपक बैज, मोहन मरकाम, सेवकराम नेताम, जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष जतिन जायसवाल,, मलकीत सिंह गैदू, सत्तार अलि, समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

मंत्री अमर से मिलने पहुंचे कांग्रेसियों को जेल ले गई पुलिस

21 Octoember 2014
बिलासपुर. नगरीय प्रशासन मंत्री व स्थानीय विधायक अमर अग्रवाल से मिलने बैलगाड़ियों पर पहुंचे कांग्रेसियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। बाद में उन्हें मुचलके पर रिहा किया गया। घटना की कांग्रेस नेताओं ने कड़ी निंदा की है। राज्य सरकार ने किसानों से प्रति एकड़ 10 क्विंटल धान खरीदने का निर्णय लिया है। इसके खिलाफ कांग्रेसी आंदोलन कर रहे हैं। हस्ताक्षर अभियान के तहत प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव, शहर अध्यक्ष नरेंद्र बोलर और जिला ग्रामीण अध्यक्ष राजेंद्र शुक्ला की अगुवाई में नगरीय प्रशासन मंत्री के राजेंद्र नगर स्थित बंगले में उनसे मिलकर हस्ताक्षर मांगने जा रहे थे।
इसकी जानकारी पुलिस को मिली तो अफसरों ने मंत्री का बंगला छावनी में तब्दील कर दिया। दोपहर में कांग्रेस भवन से कांग्रेसी बैलगाड़ी में रैली निकालकर पुलिस ग्राउंड होते हुए मंत्री के बंगले की ओर आ रहे थे। पुलिस ने उन्हें तिराहे पर मंदिर के पास रोक लिया। फिर भी कुछ कांग्रेसी बंगले तक पहुंचने में सफल हो गए। वे प्रतिनिधिमंडल के रूप में मंत्री से मिलने देने का आग्रह कर रहे थे। उनकी मांग नहीं मानी गई। इस पर कांग्रेसियों ने नारेबाजी की। इसके बाद पुलिस ने धारा 151 के तहत 50 से भी अधिक कांग्रेसियों को गिरफ्तार किया। एसडीएम के निर्देश पर उन्हें जेल ले जाया गया।
इधर, कांग्रेसियों की गिरफ्तारी की खबर फैलते ही पूर्व महापौर राजेश पांडेय की अगुवाई में कांग्रेसी जेल परिसर के बाहर धरने पर बैठ गए। कलेक्टर के निर्देश पर सभी को निजी मुचलके पर छोड़ा गया। प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल और नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने घटना की निंदा करते हुए कांग्रेसियों को बाकी जनप्रतिनिधियों के घर भी किसानों की मांग को लेकर जाने के लिए कहा है।

जेल से करते रहे मैसेज, बेअसर रहा जैमर

जेल पहुंचने पर कुछ कांग्रेसी डर गए। वे रिहाई को लेकर चिंतित हो गए। उन्होंने करीबियों को मैसेज किए, वाट्सएप पर सूचना भेजी। इससे कांग्रेसियों का डर और जेल में लगे जैमर, दोनों का सच सामने आ गया। इधर, आंदोलन में नहीं जाने वाले कांग्रेसी अपने फैसले को ठीक बताते रहे।

जेल में बढ़ी चिंता... पहले से ज्यादा, रखेंगे कहां

एसडीएम के निर्देश पर पुलिस कांग्रेसियों को सेंट्रल जेल ले गई। इस पर जेल का स्टाफ उन्हें रखने को लेकर चिंतित हो गया। उनकी चिंता थी कि पहले से यहां क्षमता से अधिक कैदी हैं। ऐसे में कांग्रेसियों को कहां रखते। आधा-पौन घंटे बाद छोड़ने का आदेश हुआ तो जेल अफसरों ने राहत की सांस ली।


कोयला घोटाले में 36 वां केस दर्ज

20 Octoember 2014
रायपुर। सीबीआई द्वारा कोलगेट मामले में 36 वीं एफआईआर जिंदल स्टील एंड पॉवर के खिलाफ दर्ज की गई थी। कंपनी द्वारा क्षमता से अधिक खनन के साथ फाइन कोयला व रिजेक्टेट कोयला बेचने सहित नए एक्सटेंशन प्लांट में कोयला उपयोग करने को लेकर यह एफआईआर की गई है। इसी मामले में दस्तावेजों की जांच और कंपनी के अधिकारियों से पूछताछ के लिए सीबीआई की एक टीम रविवार को कंपनी के आफिस जेएसपीएल डोंगामहुआ पहुंची।
रविवार को सीबीआई की दस सदस्यीय टीम ने इस कोल माइंस में दबिश देकर दस्तावेजों को खंगाला और माइनिंग से संबंधित पड़ताल की। जेएसपीएल के डोंगामहुआ सहित चार अन्य ठिकानों पर छापेमारी किए जाने की खबर है। सीबीआई के प्रवक्ता ने छापे की पुष्टि की है।
अब तक मिली जानकारी के अनुसार जेएसपीएल के डोंगामहुआ खदान से क्षमता से अधिक खनन के साथ गलत तरीके से जिंदल कंपनी ने नए प्लांट में कोयले का उपयोग किया है।
सीबीआई के प्रवक्ता ने बताया कि कंपनी को मिली अनुमति के अनुसार कोयले का उपयोग किया जाना था लेकिन कंपनी द्वारा बिना अनुमति ही पाइन कोयला व रिजेक्टेड कोयला का उपयोग किया गया। साथ ही कंपनी द्वारा डोंगामहुआ खदान से अनियमिति तरीके से खनन करते हुए कोल नियमों का उल्लंघन किया गया है। जिस पर सीबीआई द्वारा छापेमारी करते हुए जिंदल स्टील पावर लिमिटेड के साथ कंपनी के अधिकारियों के खिलाफ 120 बी, 409, 420 आईपीसी, 13 [1] [सी], 13 [1] [बी] पीसी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है।


नक्सलियों ने बस से उतारकर की जवान की हत्या

20 Octoember 2014
रायपुर, सुकमा। छुट्टी लेकर घर जा रहे बीमार जवान को बस से उतारकर नक्सलियों ने उसकी बर्बरतापूर्वक हत्या कर दी। इस वारदात से एक बार फिर नक्सलियों का वीभत्स चेहरा सामने आया है। घटना जगरगुंडा-चिंतलनार मार्ग पर सुबह आठ बजे तेमेलवाड़ा कैंप के पास हुई।
प्राप्त जानकारी के अनुसार सीएएफ 9 वीं बटालियन का जवान शिव कुमार तेमेलवा़़डा कैंप में पदस्थ था। वह रायग़़ढ जिले के तिरूडी गांव का रहने वाला था। बताया जाता है कि शिव कुमार पिछले कुछ दिनों से बीमार था इसलिए वह छुट्टी लेकर घर जा रहा था। सुबह वह चिंतलनार से दोरनापाल तक चलने वाली एकमात्र बस में कैंप से सवार हुआ था। तेमेलवाड़ा कैम्प से आधा किलोमीटर दूर स्थित घाट के पास जैसे ही बस पहुंची करीब तीस हथियारबंद नक्सली सड़क पर आ धमके।
नक्सलियों ने बस को रुकवाकर सभी सवारियों को नीचे उतरने को कहा। पुलिस जवान के रूप में शिव कुमार की पहचान कर नक्सलियों ने उसके दोनों हाथ बांध दिए। बाकी सवारियों को वापस बस में बैठने को कहा जिसके बाद बस रवाना कर दी गई।। बस के छूटते ही माओवादियों ने जवान की धारदार हथियार से हत्या कर दी। बस के पीछे आ रही पिकअप वाहन के चालक व मुसाफिरों ने दोरनापाल पहुंचकर घटना की खबर दी। खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और जवान का शव दोरनापाल लाया गया। दोरनापाल में शहीद जवान को अंतिम सलामी देने के बाद शव को गृहग्राम तिरूडी जिला रायगढ़ के लिए रवाना किया गया।
जोखिम का सफर

पुलिस के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि शिवकुमार बीमार था। वह काफी दिन से अवकाश पर जाना चाह रहा था। छुट्टी स्वीकृत होने के बाद वह घर जाने के लिए बस में निकला था। दोरनापाल से मात्र एक बस चितंलनार जाती है, जो शबरी एक्सप्रेस योजना के अन्तर्गत संचालित हो रही है। जवानों को जान जोखिम में डालकर इसी बस में आवागमन करना पड़ता है।
गौरतलब है कि दक्षिण बस्तर का यह रास्ता सर्वाधिक नक्सल प्रभावित इलाकों में शामिल है। इसी मार्ग पर अप्रैल 2010 में नक्सलियों ने सीआरपीएफ के 75 जवानों की हत्या की थी।


अब प्रदेश में ही तय होगी फसलों की लागत

20 Octoember 2014
रायपुर। प्रदेश के किसानों की पैदावार और उसमें लगने वाली लागत का निर्धारण अब प्रदेश में ही होगा। यह काम इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक करेंगे। इसके बाद रिपोर्ट बनाकर केन्द्र में मूल्य निर्धारण समिति को भेजी जाएगी।
इसके बाद ही अनाज की कीमतें तय होंगी। इसके लिए कृषि विवि को सहमति भी दे दी गई है, और उसके वैज्ञानिक इस दिशा में जल्द ही काम शुरू करेंगे। प्रदेश में किसानों को फसल की बोनी से लेकर फसल तैयार होने तक लगने वाली लागत के संबंध में मूल्यांकन अब प्रदेश के कृषि वैज्ञानिक करेंगे। इससे केन्द्र की मूल्य निर्धारण समिति द्वारा तय किए गए अनाज की कीमतों में प्रदेश में उत्पादन के लागत के अनुसार ही मूल्य तय किए जाएंगे। इससे किसानों को उत्पादन की उचित कीमत मिल पाएगी। पहले स्थानीय लागत को लेकर रिपोर्ट मध्यप्रदेश के जबलपुर से भेजी जाती थी।

जिला स्तर की भी योजना बनेगी

राज्य में होने वाले लागत मूल्य के निर्धारण में जिला स्तर पर भी योजना बनेगी। जिला में मौजूद संसाधन व बाजार की मांग को देखते हुए कृषि विकास के लिए राज्य सरकार के साथ मिलकर कृषि विश्वविद्यालय योजना बनाएगा, ताकि किसानों को ज्यादा से ज्यादा लाभ मिल सके।

मध्यप्रदेश से भेजते थे रिपोर्ट

मध्यभारत में होने वाली फसलों के उत्पादन में लगने वाली लागत का निर्धारण अब तक मध्यप्रदेश के जबलपुर में होता रहा है। जबलपुर से ही लागत का निर्धारण करके केन्द्र को भेजा जाता था, जहां से अनाज की कीमतें तय होती थीं। जबलपुर के दूसरे प्रदेश में होने के कारण स्थानीय लागत में बहुत फर्क होता था। इससे किसानों को कई बार नुकसान भी होता था। जबलपुर में मध्यप्रदेश के हिसाब से तो फसलों की लागत तय हो जाती थी, लेकिन वे छत्तीसगढ़ में फसलों में लागत के नफा-नुकसान का आकलन नहीं कर पाते थे और रिपोर्ट सीधे केन्द्र को भेज दिया जाता था, लेकिन अब ऎसा नहीं होगा।
जल्द ही विभिन्न फसलों की लागत का निर्धारण अपने प्रदेश में ही होगा। इसके लिए कृषि विवि के वैज्ञानिक सर्वे करके लागत मूल्य का निर्धारण करेंगे। इसके बाद कीमतों का खाका तैयार करके केन्द्र को भेजा जाएगा। डॉ. एसके पाटील, कुलपति, कृषि विवि


आत्मसमर्पित नक्सली पर 30 हजार जुर्माना

18 Octoember 2014
रायपुर। संगठन में अंतरकलह और पुलिस के दबाव के बीच साथी नक्सलियों के लगातार समर्पण से नक्सली बौखला गए हैं। गुरुवार को किरंदुल थाना क्षेत्र के आलनार में नक्सलियों की जनअदालत हुई। इसमें आत्मसमर्पण करने वाले चोलनार में सक्रिय रहे नक्सली लक्ष्मण व उप सरपंच कोसा व मोटू को बंधक बनाकर पिटाई की। फिर तीनों पर 30-30 हजार रुपये जुर्माना लगाया गया।
इस दौरान दरभा डीवीसी कमांडर सुरेन्द्र, प्लाटून कमांडर देवा व मलगेर एरिया कमेटी प्रमुख आयतू, दक्षिण रिजनल कमेटी के सचिव गणेश उइके के मौजूद रहने की जानकारी मिली है। एसी कमलोचन कश्यप ने बताया पुलिस को नक्सलियों के मौजूदगी की जानकारी थी, लेकिन वहां बड़ी तादाद में ग्रामीणों की उपस्थिति की जानकारी होने से कार्रवाई नहीं की।


पंचायतीराज का उड़ रहा माखौल

18 Octoember 2014
धमतरी। ग्राम देमार में पंचायती राज अधिनियम का किस तरह खुलकर दुरूपयोग हो रहा है, इसका उदाहरण साहू समाज का निर्माणाधीन भवन है। गौरतलब है कि सरपंच और सचिव उक्त भवन को स्वीकृत स्थान पर न बनाकर अन्यत्र बना रहे हैं, जिससे ग्रामीणों में रोष व्याप्त है। इसकी शिकायत प्रभारी मंत्री रमशीला साहू से करने के बाद भी निर्माण कार्य पर रोक नहीं लगाई गई। अब अंतिम उम्मीद के रूप में ग्रामीणों ने केबिनेट मंत्री अजय चंद्राकर से शिकायत की है।
जिला मुख्यालय से करीब 6 किमी दूरस्थ ग्राम पंचायत देमार में इन दिनों साहू समाज भवन निर्माण के मामले में बरती जा रही मनमानी को लेकर ग्रामीणों में रोष है। उल्लेखनीय है कि गांव में साहू समाज भवन के लिए 5 लाख रूपए की स्वीकृति मिली है। यह भवन गौठान के पास बनना प्रस्तावित था, लेकिन सरपंच और सचिव ने मनमानी करते हुए इसे वहां न बनाकर पुराने पंचायत भवन को तोड़कर बनाया जा रहा है, जिस पर साहू समाज के साथ ही ग्रामीणों ने भी आपत्ति जताई है।
गांव में पंचायती राज अधिनियम का खुलकर दुरूपयोग हो रहा है। सरपंच और सचिव ग्रामीणों की बात सुनने को तैयार नहीं है और मनमानीपूर्वक काम कर रहे है। मजेदार बात यह है कि रिकार्ड में आज भी गौठान के पास भवन निर्माण कार्य बताया जा रहा है, जबकि यह पुराना पंचायत भवन को तोड़कर बनाया जा रहा है।
सरकारी कार्यो में गफलत करने से नाराज पूर्व सरपंच शीत कुमार साहू, चंद्रशेखर साहू, बीएल ध्रुव, परदेशी राम साहू, तुलसीराम, अर्जुन सिंह, चंद्रहास साहू, धुरपत साहू, इतवारी राम, सोहन लाल, गणेश साहू, बसंत मीनपाल आदि ने कुछ दिन पहले प्रभारी मंत्री रमशीला साहू से इसकी शिकायत की थी। इसके अलावा जनपद पंचायत के सीईओ को भी ज्ञापन सौंपकर तत्काल काम में रोक लगाने की मांग की थी। इसके बाद भी प्रशासन द्वारा कोई गंभीरतापूर्व कार्रवाई नहीं हुई। भवन निर्माण के लिए गौठान के पास की जगह उपयुक्त है।

गांव पहुंचे जांच अधिकारी

ग्रामीणों के बढ़ते दबाव के बाद जनपद से मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री पटेल जांच के लिए गांव पहुंचे। उक्त निर्माण कार्य स्थल का जायजा लेने के बाद वे लौट आए। उधर गांव के सरपंच और सचिव ने अपने ऊपर लगाए गए