लाइफस्टाइल | बिजनेस | राजनीति | कैरियर व सफलता | छत्तीसगढ़ पर्यटन | स्पोर्ट्स मिरर | नियुक्तियां | वर्गीकृत | येलो पेजेस | परिणय | शापिंगप्लस | टेंडर्स निविदा | Plan Your Day Calendar



:: संस्कृति कला ::

 

सेंट्रल लाइब्रेरी में "हिन्दी उत्सव -2017"
Our Correspondent :13 September 2017

युवाओं में हिन्दी की समझ को बढ़ावा देने के उद्देश्य से शासकीय मौलाना आज़ाद केन्द्रीय पुस्तकालय भोपाल आगामी शुक्रवार और शनिवार को दो दिवसीय हिन्दी उत्सव का आयोजन करने का जा रहा है । इस उत्सव में शहर के सही लोगों के लिए ओपन तीन प्रतियोगिताओं का आयोजन किता जाएगा । इन प्रतियोगिताओं में बाग लेने के लिए कोई भी व्यक्ति लाइब्रेरी आ सकता है ।
कार्यक्रम का विवरण
आयोजन का नाम - हिन्दी उत्सव -2017
दिनांक - 15 एवं 16 सितंबर 2017
स्थान - सेंट्रल लाइब्रेरी भोपाल
तीन ओपन प्रतियोगिताएं
हिन्दी निबंध प्रतियोगिता
दिनांक - 15 सितंबर (शुक्रवार )
समय - सुबह 10 बजे
पुरुसकार - 6000/ - रुपये नगद
भाग लेने के लिए - सुबह 9.30 बजे लाइब्रेरी पहुँचें
हिन्दी क्विज़
दिनांक - 15 सितंबर 2017 (शुक्रवार )
समय - सुबह 11.30 बजे
पुरुस्कार - 6000/- रुपये नगद
भाग लेने के लिए - दो लोगों की टीम बनाकर सुबह 11 बजे तक सेंट्रल लाइब्रेरी पहुँचें
तात्कालिक भाषण
दिनांक - 16 सितंबर 2017 (शनिवार )
समय - सुबह 11 बजे
कितने लोग भाग ले सकते हैं - केवल 20
पुरुस्कार - 6000/- रुपये नगद
भाग लेने के लिए - सुबह 10 बजे लाइब्रेरी पहुँचकर सबसे पहले अपना नाम नोट करा दें
कुल नगद पुरुस्कार - रुपये 18000/-


छात्र जीवन में व्हाइटअप और फेसबुक से बचना चाहिए
Our Correspondent :1 September 2017


छात्र जीवन में व्हाइटअप और फेसबुक से बचना चाहिए- प्राचार्य छतरपुर -नौगांव (छतरपुर) वर्तमान समय में शिक्षा का कार्यक्षेत्र बहुत अत्यधिक बढ़ गया है प्रत्येक माता पिता अपनी संतान को उच्च शिक्षा ग्रहण करने के लिए तन मन धन से मदद कर पुरुष आहत करते हैं लेकिन कुछ विद्यार्थी अपनी संस्कृति और संस्कारों को भूल कर गुमराह हो रहे हैं जिस कारण से विद्यार्थी अपने लक्ष्य से भटक जाते हैं प्रत्येक विद्यार्थी को शिक्षा के पूर्व अपने लक्ष्य को क्या करना होगा लक्ष्य तय करने के बाद शिक्षा ग्रहण करने वाले विद्यार्थी अपने उच्च शिखर तक पहुंचते हैं उपरोक्त विचार शासकीय पालीटेक्निक नौगांव में आयोजित भारतीय संस्कारों एवं स्वच्छ भारत अभियान आयोजन में नौगांव नगर निरीक्षक श्री विनायक शुक्ला ने कहा उन्होंने कहा कि वर्तमान में शिक्षण संस्थाओं में समाजसेवी संतोष गंगेले द्वारा इस प्रकार के आयोजन कर भारतीय संस्कृति के संस्कार को बचाने के लिए जो अलग जगह जा रही है उसकी सभी को सराहना करना चाहिए इस अवसर पर पॉलिटेक्निक कॉलेज के प्राचार्य श्री बृजेश नारायण सक्सेना ने कहा कि बच्चे एक कच्ची मिट्टी की तरह होते हैं उन्हें संभाल लें और सजाने में अत्यधिक प्रयास करना पड़ता है वर्तमान समय में इंटरनेट के माध्यम से वर्तमान छात्र-छात्राएं इतिहास को अत्यधिक समय देकर शिक्षा के रास्ते से भटक रहे हैं इसलिए प्रत्येक छात्र छात्रा को जीवन में कम से कम अध्ययन करते समय ऐसे सोशल नेटवर्किंग से बचना चाहिए। इस अवसर पर सांसद प्रतिनिधि श्री धीरे से भरे ने बच्चों को प्रसन्न करते हुए कहा कि हमें भारत की संस्कृति और महापुरुषों के जीवन के बारे में ज्ञान होना आवश्यक है जब तक हमें अपने इतिहास का ज्ञान नहीं होगा हम शिक्षा की ओर नहीं भर सकते हैं इसलिए नैतिक शिक्षा और व्यवहारिक शिक्षा दोनों का समावेश जीवन में आवश्यक है कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रुप में पधारी बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान लोगों की अध्यक्ष श्रीमती भारती साहू ने बच्चों को प्रेरणा देते हुए अपने से बड़ों का आदर भाव जीवन में समय की पाबंदी और संस्कारों को जीवन में अपनाने पर बल दिया कार्यक्रम के संयोजक संतोष गंगेले ने विचार रखते हुए बताया जब तक व्यक्ति अपनी कमियों का सुधार नहीं करेगा वह विकास नहीं कर सकता है प्रत्येक व्यक्ति को अपने अंदर बुरे विचारों का परित्याग करना होगा क्रोध को स्थान नहीं देना होगा तभी समाज का कार्य संभव है देश विकास के लिए सभी को सामाजिक समरसता के काम करना चाहिए कार्यक्रम का संचालन करते हुए श्री रितेश अग्रवाल ने बच्चों को बौद्धिक ज्ञान पर बल दिया इस अवसर पर संस्था के प्राध्यापक श्री आर के गोस्वामी एसके नागौर जे एस डाबर जी आदि व्याख्याताओं ने भी विचार रखे स्वच्छ भारत जन जागृति अभियान बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान पर विस्तार से विचार-विमर्श किए गए इस अवसर पर नौगांव प्रेस क्लब के अध्यक्ष श्री नन्हें राजा बुंदेला ने बच्चों को संबोधित किया तथा शिक्षा के अध्ययन के बारे में बताया कार्यक्रम के अंत में संस्था प्रमुख द्वारा अतिथियों आपके द्वारा संस्था के 21 छात्र छात्राओं को सम्मानित कर प्रोत्साहन दिया गया


दुष्यंत कुमार पांडुलिपि संग्रहालय में ओपन बुक्स ऑनलाइन की त्रैमासिक साहित्यिक संगोष्ठी
Our Correspondent :31 July 2017

दुष्यंत कुमार पांडुलिपि संग्रहालय के सभागार में वरिष्ठ साहित्यकार रामप्रकाश त्रिपाठी की अध्यक्षता में ओपनबुक्स ऑनलाईन डॉट कॉम की त्रैमासिक साहित्यिक संगोष्ठी का आयोजन संपन्न हुआ. विशिष्ट अतिथि ग़ज़लकार जहीर कुरेशी एवं जयप्रकाश त्रिपाठी उपस्थित रहें। बलराम धाकड़ ने ." आभासी संसार और वास्तविक संसार का साहित्य" विषय पर बीज वक्तव्य देते हुए आभासी और वास्तविक संसार के साहित्य को एक दूसरे का सम्पूरक बताया। जयप्रकाश त्रिपाठी ने कहा कि आभासी संसार मे साहित्य को उचित मार्गदर्शन आवश्यक है। रामप्रकाश त्रिपाठी ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में कहा कि आभासी संसार उत्तर आधुनिकता की देन है। जिन्हें छंद और शब्द की समझ नहीं है वह भी आभासी संसार के खुद को महाकवि मान लेते हैं। ओपन बुक्स ऑनलाइन का परिचय देते हुए कल्पना भट्ट ने कहा कि यह एक ऐसी साहित्यिक वेबसाइट हैं जो साहित्य की पाठशाला भी है और प्रकाशन भी। साहित्यिक पत्रिका कविकुम्भ की संपादिका रंजीता सिंह ने अपनी पत्रिका के विषय मे बताया। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ कवि गीतकार अशोक निर्मल द्वारा किया गया। व्याख्यान के बाद काव्य पाठ हुआ।जहीर कुरेशी ने ग़ज़ल सुनाकर श्रोताओं को मंत्र मुग्ध कर दिया। मिथिलेश वामनकर ने किसान के जीवन पर आधारित ग़ज़ल सुनाई । इसके अतिरिक्त रंजीता सिंह, दिनेश प्रभात, ऋषि श्रृंगारी, ममता बाजपेयी, तिलकराज कपूर, हरिवल्लभ शर्मा, विमल कुमार शर्मा, दिनेश मालवीय, सीमा हरि शर्मा, शशि बंसल, हरिओम श्रीवास्तव, सीमा पाण्डे, अरविंद जैन, रक्षा दुबे, प्रतिभा पांडे, मोतीलाल आलम चन्द्र , अर्पणा शर्मा ने भी काव्य पाठ किया।


फिल्मफेयर अवॉर्ड में छाई 'बर्फी'
मुंबई। 'बर्फी' को भले ही ऑस्कर से निराशा हाथ लगी हो लेकिन 58वें आइडिया फिल्मफेयर अवॉर्ड में छाई रही। रविवार की रात मुंबई में अंधेरी के वाईआरएफ स्टूडियो में सितारों महफिल ऐसी सजी कि हर कोई एक झलक पाने के लिए बेताब दिखा। उन सितारों में सबसे ज्यादा रणबीर कपूर के चेहरे पर चमक थी। ऐसा लग रहा था कि कपूर खानदान का कोई सपूत दावा कर रहा हो कि हां मेरी रगों में राज कपूर का लहू बहता है। फिल्मफेयर अवॉर्ड सेरिमनी में 'बर्फी' को कुल 7 अवॉर्ड्स मिले। इसमें रणबीर कपूर को बेस्ट ऐक्टर और 'बर्फी' को बेस्ट फिल्म का अवॉर्ड शामिल है। इस फिल्म में रणबीर कपूर ने मूक-बधिर की शानदार भूमिका निभाई थी। फिल्म 'कहानी' के लिए विद्या बालन को बेस्ट ऐक्ट्रेस का अवॉर्ड मिला। विद्या अपने पति सिद्धार्थ रॉय कपूर के साथ सेरिमनी में मौजूद थीं। अवॉर्ड की घोषणा होने से पहले विद्या बालन ने कहा, 'मुझे अपने काम पर पूरा भरोसा है।' उन्होंने अपनी प्रतिद्वंद्वी प्रियंका चोपड़ा की 'बर्फी' में ऐक्टिंग की भी जमकर तारीफ की। गौरतलब है दोनों फिल्में टॉप कैटिगरी में शामिल थीं। जहां 'बर्फी' को बेस्ट फिल्म का तमगा मिला वहीं 'कहानी' के डायरेक्टर सुजॉय घोष को बेस्ट डायरेक्टर के अवॉर्ड से नवाजा गया। ग्लोबल मंच पर अपनी खास पहचान बना चुके इरफान खान को 'पान सिंह तोमर' के लिए बेस्ट ऐक्टर का क्रिटिक्स अवॉर्ड दिया गया। इरफान की पहचान बॉलिवुड के सारे खान स्टारों से बिल्कुल अलग है। 'पान सिंह तोमर' में इरफान की ऐक्टिंग को पूरे फिल्म जगत में तारीफ मिली है। सेरिमनी में आए इरफान ने कहा कि मेरे लिए फिल्म में ऐक्टिंग करना एक मुश्किल क्रिएटिव चुनौती की तरह है। बेस्ट लिरिक्स का अवॉर्ड गुलजार को दिया गया। उन्होंने कहा कि मैं इस समारोह में यश चोपड़ा को तलाश रहा हूं। लेकिन वह नहीं हैं। वह यश चोपड़ा को याद कर बेहद भावुक हो गए। दिवंगत डायरेक्टर यश चोपड़ा को लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड दिया गया। गुलजार को यह अवॉर्ड फिल्म 'जब तक है जान' के गाने 'छल्ला' के लिए दिया गया है। प्रीतम को बर्फी के लिए बेस्ट म्यूजिक डायरेक्टर का अवॉर्ड दिया गया।


हिंदी सीख रही हैं आस्ट्रेलियाई मॉडल क्रिस्टीना
नई दिल्ली। ऑस्टे्रलिया की मॉडल से एक्ट्रेस बनी क्रिस्टीना अखीवा ने अपनी पहली बॉलीवुड फिल्म 'यमला पगला दीवाना 2' की शूटिंग के दौरान हिंदी सुधारने पर जोर दिया। उन्हें लगता है कि इससे उन्हें आगे भी मदद मिलेगी। क्रिस्टीना ने कहा,मैं वास्तव में बॉलीवुड में अपने किरदार को गम्भीरता से ले रही हूं और मुझे लगता है कि भाषा एक महत्वपूर्ण किरदार निभाती है। इस वजह से मैं हिंदी भाषा ठीक कर रही हूं। क्रिस्टीना इस फिल्म में सनी देओल के साथ नजर आएंगी और उन्होंने हाल ही में तीन महीने की शूटिंग पूरी की है। हास्य और प्रेम पर आधारित 'यमला पगला दीवाना 2' 2011 में प्रदर्शित फिल्म 'यमला पगला दीवाना' का अगला संस्करण है जिसका निर्देशन संगीत सिवन कर रहे हैं।



फिर खोले फिटनेस के राज
बिपाशा बसु की लाइफ में एक दौर ऎसा भी आया, जब वे मोटी नजर आती थीं। इधर बीते कई वर्षो से एक सुखद आश्चर्य के रूप में वे स्लिम बनी हुई हैं। इतना ही नहीं, वे अपने छरहरेपन का बेशकीमती राज भी पब्लिक के साथ साझा कर रही हैं। बिपाशा ने कुछ अर्से पहले 'फिट एंड फेबुलस' टाइटल के साथ डीवीडी जारी की थी, अब वे अपनी दूसरी डीवीडी 'ब्रेक फ्री' के साथ अपना फिटनेस फंडा शेयर कर रही हैं। खास बात यह कि इस डीवीडी के जरिए उन्होंने डांस के साथ फिटनेस का पाठ पढ़ाया है। बिपाशा ने डांस और एक्सरसाइज के अपने शौक को मिला कर वजन घटाने का रोचक फॉर्मूला तैयार किया है। जैसाकि बिपाशा बताती हैं, 'ब्रेक फ्री उन लोगों के लिए है, जो दिलचस्प अंदाज में अपना वजन घटाना चाहते हैं। इस डीवीडी की मदद से आप मनचाहे समय और सुविधा के अनुसार अपना वजन घटा सकते हैं।' चर्चा यह भी है कि बिपाशा ने अपनी तीसरी फिटनेस डीवीडी की भी प्लानिंग कर ली है।