लाइफस्टाइल | बिजनेस | राजनीति | कैरियर व सफलता | छत्तीसगढ़ पर्यटन | स्पोर्ट्स मिरर | नियुक्तियां | वर्गीकृत | येलो पेजेस | परिणय | शापिंगप्लस | टेंडर्स निविदा | Plan Your Day Calendar



:: राजनीति ::

 


रमन सिंह
swine flu
रमन सिंह (जन्म: १५ अक्टूबर, १९५२, कवर्धा) एक भारतीय राजनेता है और छत्तीसगढ के वर्तमान मुख्यमंत्री हैं। रमन सिंह १९९० और १९९३ में मध्यप्रदेश विधानसभा के सदस्य रहे। उसके बाद सन् १९९९ में वे लोकसभा के सदस्य चुने गये। १९९९ और २००३ में उन्होंने भारत सरकार में राज्य मंत्री का भी पद संभाला। २००४ में हुये विधानसभा के चुनावों में उन्होंने सफलता पाई और छत्तीसगढ़ राज्य के मुख्यमंत्री बने।
२००८ के विधानसभा चुनावों में उन्होंने फिर से सफलता पायी और राज्य के पुनः मुख्यमंत्री बने।


यूपी विधानसभा में हंगामा,कार्यवाही स्थगित
Our Correspondent :18 spt. 2013
लखनऊ : यूपी विधानसभा में विपक्षी दलों के विधायकों ने जमकर हंगामा किया. हंगामे के देखते हुए सदन की कार्यवाही आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी गई. मुजफ्फरनगर जिले में पिछले दिनों हुई हिंसा को लेकर विपक्षी दलों ने सरकार को घेरने की कोशिश की. एक निजी चैनल द्वारा किए गए खुलासे को लेकर और सरकार पर विधायकों को फंसाने का आरोप लगाते हुए बीजेपी और बीएसपी के सदस्यों ने सदन में जमकर हंगामा किया.
विधानसभा की कार्यवाही बुधवार को 11 बजे जैसे ही शुरू हुई, बीजेपी और बीएसपी के सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया. दोनों दलों ने सरकार पर आरोप लगाया कि उनके विधायकों के खिलाफ झूठा मामला दर्ज कराकर फंसाए जाने की कोशिश की जा रही है.
हंगामा कर रहे सदस्य अध्यक्ष के आसन के करीब आ गए. अध्यक्ष द्वारा समझाने के बावजूद भी सदस्यों का हंगामा जारी रहा जिसके बाद सदन की कार्यवाही आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी गई.
गौरतलब है कि विधानमंडल का चार दिवसीय मानसून सत्र सोमवार को शुरू हुआ था लेकिन विपक्षी सदस्यों के हंगामे के चलते उस दिन सदन की कार्यवाही नहीं हो पाई थी. आज भी सदन की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्षी दलों ने हंगामा शुरू कर दिया है.
मैंने किसी को फोन नहीं किया: आजम
Our Correspondent :18 spt. 2013
लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुजफ्फर नगर में हुई हिंसा को लेकर एक निजी चैनल ने स्टिंग ऑपरेशन किया है. इस ऑपरेशन में राज्य सरकार के मंत्री आजम खान की भूमिका को लेकर सवाल उठाए गए हैं. आजम खान ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी सफाई पेश की है. उन्होंने इस ऑपरेशन के तहत लगाए गए आरोपों से साफ इनकार किया है.
आजम ने सफाई देते हुए कहा है कि मैंने किसी को फोन नहीं किया था और स्टिंग ऑपरेशन के द्वारा इंस्पेक्टर के बयान को जबर्दस्ती बुलवाया गया है. संवाददाताओं से बात करते हुए कैबिनेट मंत्री ने कहा कि ये सफेद झूठ है, इन दंगों में मेरी कोई भूमिका नहीं. चैनल पर निशाना साधते हुए कहा कि टीआरपी के लिए ये एक हथकंडा है.
स्टिंग ऑपरेशन में फंसे आजम ने कहा कि अगर मेरे ऊपर दोष साबित हुआ तो मैं कोई भी सजा भुगतने के लिए तैयार हूं. अपना बचाव करते हुए आजम ने कहा कि मेरे जैसे व्यक्ति का राजनीति में रहना जरूरी है.
गौरतलब है कि एक निजी चैनल ने मुजफ्फनगर में हुई हिंसा को लेकर शहर भर के संवेदनशील थानों के SHO से खुफिया कैमरों पर बात की थी. स्टिंग ऑपरेशन में बताया गया कि यूपी के एक मंत्री ने दंगों के बारे में आदेश दिया कि दंगा होता है तो होने दो, कोई कार्रवाई करने की जरूरत नहीं है. इस सनसनीखेज खुलासे के बाद उत्तर प्रदेश में सियासी तूफान खड़ा हो गया है. वहीं पुलिस अधीक्षक ने खुफिया कैमरे के सामने स्वीकार किया है कि दंगे के पीछे राजनीतिक साजिश थी.
यही नहीं स्टिंग ऑपरेशन के सामने के बाद राज्य सरकार ने कार्रवाई करते हुए फुगाना के सब इंस्पेक्टर आरएस भगौर को लाइन हाजिर कर दिया है. दरअसल स्टिंग ऑपरेशन में सब इंस्पेक्टर भगौर को स्वीकार करते हुए दिखाया गया है कि दंगा को रोकने के पीछे एसपी के एक मंत्री का हाथ था. वहीं तलाशी लेने वाले जिले के डीएम का तत्काल प्रभाव से तबादला कर दिया गया है.
मुजफ्फरनगर दंगों का सच,संकट में सरकार
Our Correspondent :18 spt. 2013
मुजफ्फरनगर : यूपी के मुजफ्फरनगर दंगों में दहला देने वाला सच सामने आया है. एक न्यूज चैनल द्वारा कराए गए स्टिंग में अखिलेश सरकार का सच सामने आया है. स्टिंग में सरकार से जुड़े किसी आजम नाम के शख्स का नाम भी सामने आया है. पुलिस के मुताबिक इसी शख्स ने फोन कर कहा था कि जो हो रहा है, होने दो.
आजम की सफाई
स्टिंग के जरिए आजम खान का सच सामने आने पर मंत्री आजम खान ने कहा है कि मुझे इस पर कुछ नहीं कहना है. चैनल ने जो किया वो पूरी तरह गलत है. रिपोर्ट ने एसएचओ से जबरन बात कहलवाई. मेरे कॉल रिकॉर्ड उपलब्ध हैं, इसकी जांच की जा सकती है. दोषी साबित हुआ तो भुगतने को तैयार हूं.
दंगों में हुई राजनीति-पुलिस
स्टिंग के दौरान खुफिया कैमरे में सीओ जानसठ जगतराम जोशी और एसडीएम आरसी त्रिपाठी के अलावा एसपी क्राइम कल्पना सक्सेना, एसओ फुगाना आरएस भगौर, एसओ शाहपुर सत्यप्रकाश सिंह, एसएचओ भोपा समरपाल सिंह, एसएचओ मीरापुर एके गौतम और हटाए गए इंस्पेक्टर बुढ़ाना ऋषिपाल सिंह कैद हुए हैं. सभी एक सुर में सरकार की लेटलतीफी और नाकामी का मुद्दा उठा रहे हैं और इसे राजनीति का खेल करार दे रहे हैं.
सभी दंगों की वजह सियासत को बता रहे हैं. वोट बैंक की राजनीति के चलते ही मुजफ्फरनगर में इतना बड़ा दंगा हुआ. जानसठ के सर्कल ऑफिसर जेआर जोशी का कहना है कि मलिकपुरा के दो युवकों की हत्या के बाद तलाशी अभियान चलाकर सात आरोपियों को हिरासत में लिया गया था. लेकिन लखनऊ से एक कद्दावर एसपी नेता के फोन पर सातों को रिहा करना पड़ा.
इस स्टिंग में एसएचओ मीरापुर बोल रहे हैं कि एसपी नेता ने डीएम-एसएसपी को हटवाया जबकि दोनों अधिकारी अच्छा काम कर रहे थे. हिरासत में लिए युवकों को भी छुड़वा दिया. एसएचओ भोपा समरपाल सिंह कह रहे हैं कि कवाल कांड के बाद डीएम-एसएसपी का तबादला गलत हुआ. अगर चार दिन बाद तबादला होता, तो शायद दंगा नहीं होता.
एसएचओ फुगाना आरएस भगौर कहते दिख रहे हैं कि दंगे की आग जब बुढ़ाना, फुगाना और शाहपुर के देहात क्षेत्र में पहुंची तो वहां पुलिस फोर्स की भारी कमी रही. जब तक फोर्स पहुंची, तब तक हिंसा बड़े पैमाने पर फैल चुकी थी और बहुत कुछ हो चुका था. बड़े अफसरों से उनका संपर्क ही नहीं हो पाया. हथियार इतने पुराने थे कि उन्हें इस्तेमाल ही नहीं किया जा सका.
पुलिसवालों पर गिरी बिजली
उधर, स्टिंग ऑपरेशन का प्रसारण होने के तुरंत बाद इन पुलिस वालों पर गाज गिरनी भी शुरू हो गई. सरकार ने एसएसपी ने एसओ फुगाना आरएस भगौर को लाइन हाजिर कर दिया जबकि एक अफसर को क्राइम ब्रांच भेज दिया गया है.
सोनिया के ड्रीम प्रोजेक्ट पर कोयले की कालिख
Our Correspondent :20 aug. 2013
नई दिल्ली। यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी की ड्रीम योजना फूड सिक्योरिटी बिल आज फिर लटक गया. कांग्रेस चाहती थी कि 20 अगस्त को इस योजना को फलीभूत किया जाए क्योंकि आज ही राजीव गांधी की जयंती भी है लेकिन कोलगेट ने कांग्रेस और सोनिया गांधी के मंसूबों पर पानी फेर दिया. बीजेपी सहित तमाम विपक्षी पार्टियों ने कोयला घोटाले में अहम फाइलें गुम होने के मुद्दे पर संसद के दोनों सदनों में जमकर कोहराम मचाया. इसके कारण दोनों सदन की कार्यवाही 22 अगस्त तक के लिए स्थगित कर दी गई. मंगलवार को सदन की कार्यवाही जैसे ही शुरू हुई लोकसभा में सुषमा स्वराज और राज्यसभा में अरुण जेटली ने फाइल गुम होने का मुद्दा उठाया. जिसके बाद दोनों सदन की कार्यवाही दो बार स्थगित करनी पड़ी. 2 बजे जैसे ही लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही फिर शुरू हुई तो बीजेपी के सांसदों ने हंगामा करना शुरू कर दिया. विपक्षी सदस्यों के हंगामे के कारण दोनों सदन की कार्यवाही 22 अगस्त तक के लिए स्थगित कर दी गई.
पीएम जवाब दें : सुषमा
लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने कोयला ब्लॉक आवंटन फाइलें गुम होने के मामले पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से सदन में आकर स्थिति स्पष्ट करने की मांग की. उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट की देखरेख में हो रही है. पहले कानून मंत्री को कोयला ब्लॉक आवंटन मामले की रिपोर्ट में फेरबदल करने की वजह से इस्तीफा देना पड़ा था और अब फाइलें गायब होने का मामला सामने आया आया है.
सुषमा ने स्पीकर मीरा कुमार से आग्रह किया कि वो सरकार को निर्देश दें कि फाइल गायब होने के मामले में प्रधानमंत्री सदन में आकर स्थिति स्पष्ट करें. उन्होंने कहा कि आवंटन से जुड़ी जो 147 फाइलें गायब हुई हैं उसमें कांग्रेस का कोई न कोई बड़ा आदमी शामिल है.
विपक्ष की नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री को सदन को आश्वस्त करना चाहिए और ये बताना चाहिए कि गुम हुई फाइलें कैसे वापस आयेंगी. इसके बाद बीजेपी के सदस्य अपने स्थानों पर खड़े होकर नारेबाजी करने लगे
गायब नहीं हुई, करवाई गई : जेटली
वहीं, राज्यसभा में विपक्ष की नेता अरुण जेटली ने आरोप लगाया कि फाइलें गायब नहीं हुई हैं बल्कि गायब करवाई गई हैं. सदन में बीजेपी के उपनेता रविशंकर प्रसाद और वरिष्ठ नेता वेंकैया नायडू के नेतृत्व में सभी बीजेपी सांसदों ने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री द्वारा सफाई देने के लिए उन्हें सदन में बुलाने की मांग की
इस पर उपसभाति पी जे कुर्रियन का कहना था कि कल भी सदन में ये मुद्दा उठाया और तब सरकार की ओर से आश्वासन मिला था कि कोयला मंत्री सदन में इस बारे में बयान देंगे. इसलिए प्रधानमंत्री को सदन में बुलाने की मांग जायज नहीं है, लेकिन बीजेपी के सांसद अड़े रहे और बार-बार प्रधानमंत्री को बुलाने की मांग करने लगे.
बीजेपी सांसद रविशंकर प्रसाद ने कहा कि प्रधानमंत्री कोयला घोटाले के समय कोयला मंत्री थे और सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में इस घोटाले की जांच चल रही है. इसलिए इस घोटाले की फाइलें गायब होना गंभीर मुद्दा है. लिहाजा, प्रधानमंत्री को आकर सदन में इस पर जवाब देना चाहिए.
गायब फाइलों की तलाश जारी : कोयला मंत्री
उधर, राज्यसभा में कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ने बयान दिया कि फाइलों को खोजने का काम चल रहा है और इसके लिए एक कमेटी बनाई गई है. अगर मुझ पर आरोप साबित हुए तो सजा मंजूर है. फाइलें गुम हुईं तो FIR क्यों नहीं हुई : मुख्तार
वहीं बीजेपी सांसद मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि फाइलें गुम हुईं तो FIR क्यों नहीं हुई? एक ड्राइविंग लाइसेंस गुम होने पर भी हम FIR कराते हैं. ये तो बड़ा मामला था. नकवी ने आरोप लगाया कि फाइलों के गुम होने के पीछे सरकार खुद है.
गौरतलब है कि कोयला खदान अलॉटमेंट के लिए साल 1993 से 2004 के बीच कई कंपनियों ने आवेदन किया था और उनके दस्तावेज गायब हैं. इनमें कांग्रेस सांसद विजय दर्डा की कंपनी की फाइल भी शामिल है. दर्डा ने बांदेर कोल ब्लॉक के लिए सिफारिश की थी, जिसे पीएमओ ने आगे बढ़ाया था.



PM की कुर्सी पर सुषमा स्वराज !
Our Correspondent :20 aug. 2013
नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी की नेता सुषमा स्वराज मंगलवार को लोकसभा में प्रधानमंत्री की कुर्सी पर जा बैठीं.
दरअसल गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे स्वास्थ्य लाभ के बाद मंगलवार को पहली बार लोकसभा में आए थे. सुषमा उनका हालचाल जानने के लिए गईं और उनके बगल में प्रधानमंत्री की खाली पड़ी कुर्सी पर जा बैठीं.
इस बीच, केंद्रीय मंत्री गिरिजा व्यास और सत्ता पक्ष के कुछ दूसरे सदस्यों को मुस्कराते हुए सुषमा की ओर इशारा करते देखा गया. कुछ सदस्य पत्रकार दीर्घा का ध्यान सुषमा के प्रधानमंत्री के स्थान पर बैठने की ओर दिला रहे थे. एसपी अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव सहित शिवसेना, जेडीयू, डीएमके और कई दूसरे दलों के सदस्यों ने शिंदे के पास जाकर उनका हालचाल जाना.



जेटली कैसे बने इतने धनवान : दिग्विजय
Our Correspondent :20 aug. 2013
नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली पर निशना साधते हुए उनसे उनकी दौलत के बारे में पूछा है. दिग्विजय ने जेटली की लगातार बढ़ रही धन-दौलत पर सवाल खड़े किए. दिग्विजय ने ट्वीट कर कहा है कि सभी सांसदों में जेटली की दौलत सबसे ज्यादा है. इतना ही नहीं दिग्विजय ने एक ब्लॉग का लिंक भी दिया है. लिंक देते हुए उन्होंने ट्वीट किया कि सभी सांसदों में अरुण जेटली की दौलत सबसे ज्यादा है. क्या अरुण प्रतिक्रिया देंगे. इस ब्लॉग को हटाने की कोशिश की गई, लेकिन अब ये लोगों के बीच है.



नीतीश को शर्म नहीं आती: बीजेपी
Our Correspondent :23 July 2013
पटना। बिहार बीजेपी में अंदरुनी बगावत के बाद बीजेपी नेताओं ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हल्ला बोल दिया है. बीजेपी नेता राजीव प्रताप रुडी ने कहा कि नीतीश कुमार को शर्म नहीं आती, वो मुद्दा भटका रहे हैं.
बिहार बीजेपी प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, दो विधायकों के पार्टी से जाने से पार्टी नहीं टूटती. उन्होंने कहा कि ये तो समय ही बताएगा कि कौन सी पार्टी टूटेगी.
गौरतलब है कि बीजेपी में मोदी को लेकर बगावत पर नीतीश कुमार ने दावा किया था कि बीजेपी के 30 से 40 विधायक जेडीयू के संपर्क में हैं. जिसके बाद सियासी माहौल और गरमा गया और बीजेपी ने भी कई जेडीयू विधायकों को पार्टी से तोड़ने की धमकी दे डाली
इस बीच, एक सर्वे के हवाले से कहा गया है कि अगर अभी लोकसभा चुनाव हुए तो नीतीश को इसका नुकसान हो सकता है. सर्वे के मुताबिक बीजेपी-जेडीयू की इस जंग का सबसे ज्यादा फायदा लालू यादव की आरजेडी को हो सकता है
सर्वे के मुताबिक बीजेपी-जेडीयू के गठबंधन टूटने के बाद नीतीश की लोकप्रियता में 9 फीसदी की कमी आई है जबकि बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी की लोकप्रियता 6 फीसदी बढ़ी है.

मोदी के लिए दिल्ली अभी दूर है: शत्रुघ्न
Our Correspondent :23 July 2013
नई दिल्ली। बीजेपी नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने आज कहा कि गुजरात के सीएम नरेंद्र मोदी के लिए दिल्ली अभी दूर है. उन्होंने कहा कि वो मोदी से ज्यादा बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी को महत्व देते हैं.
मीडिया को दिए एक बयान में बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि आडवाणी और अटल विहारी बाजपेयी की बदौलत आज बीजेपी देश की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनी हुई है. मोदी पर निशाना साधते हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि पार्टी में कुछ नेता ऐसे हैं जो पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की उपेक्षा कर रहे हैं.
गौरतलब है कि इससे पहले भी शत्रुघ्न सिन्हा को मोदी के खिलाफ बोलते देखा गया है. सिन्हा को आडवाणी का समर्थक और मोदी का विरोधी माना जाता है.



शकील के बयान पर सियासी रार
Our Correspondent :23 July 2013
नई दिल्ली। शकील अहमद के बयान पर भले ही कांग्रेस ने कन्नी काट ली हो लेकिन कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने अपनी पार्टी के नेता शकील अहमद के उस ट्वीट का समर्थन किया, जिसमें उन्होंने बीजेपी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर सांप्रदायिक राजनीति करने का आरोप लगाया था. शकील अहमद ने रविवार को एक ट्वीट करके कहा था कि प्रतिबंधित संगठन इंडियन मुजाहिदीन का गठन गुजरात दंगों के बाद हुआ था.
सिंह ने संवाददाताओं से कहा कि धार्मिक कट्टरतावाद आतंकवाद की जड़ है. नरेंद्र मोदी के गुजरात के मुख्यमंत्री बनने से पहले से ही उनकी पार्टी विभाजन की राजनीति करती आ रही है.
वहीं, दिग्गी के शकील के बचाव में आने के बाद एक बार फिर कांग्रेस महासचिव शकील अहमद ने आज मुख्य विपक्षी पार्टी पर आरोप लगाया कि वह एनआईए के उस आकलन से लोगों का ध्यान हटाने की कोशिश कर रही है जिसमें कहा गया था कि 2002 के गुजरात दंगों के परिणामस्वरूप आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिद्दीन का गठन हुआ.
अहमद ने ट्विटर पर लिखा है , ''नाटकीय ढंग से बीजेपी नेताओं के शोर शराबे के कारण मेरे बयान को लेकर एनआईए के आकलन से देश का ध्यान बांटने की कोशिशें की जा रही हैं.’’ इस मामले पर बीजेपी और कांग्रेस एक-दूसरे के आमने-सामने आ गई है और दोनों में बयानबाजी तेज हो गई है.



1984 दंगा: सज्जन को अदालत का नोटिस
Our Correspondent :22 July 2013
नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट ने 1984 के सिख विरोधी दंगा मामले में सज्जन कुमार को बरी करने के फैसले के खिलाफ सीबीआई की अपील पर कांग्रेस नेता को नोटिस जारी किया है. ये मामला एक भीड़ द्वारा पांच सिखों की हत्या से जुड़ा है.
जस्टिस जी एस सिस्तानी और जस्टिस जी पी मित्तल की पीठ ने जांच एजेंसी की याचिका पर सज्जन कुमार से जवाब तलब किया है. न्यायालय इस मामले में अब 27 अगस्त को आगे विचार करेगा.



शिवराज के पोस्टर से मोदी गायब
Our Correspondent :22 July 2013
भोपाल। आज से मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जन आशीर्वाद यात्रा शुरु कर रहे हैं. इसके साथ ही वो एमपी में विधानसभा चुनाव अभियान का आगाज करेंगे. लेकिन अखबारों में छपे इस यात्रा के विज्ञापन से गुजरात के मुख्यमंत्री और बीजेपी के प्रचार समिति अध्यक्ष नरेंद्र मोदी गायब नजर आ रहे हैं.
इस पोस्टर में बीजेपी के सभी नेता नजर आ रहे हैं, लेकिन मोदी कहीं भी नहीं दिख रहे हैं. इसमें अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी, सुषमा स्वराज, राजनाथ सिंह, अनंत कुमार नजर आ रहे हैं, लेकिन मोदी कहीं नहीं हैं. अब तक बीजेपी हाईकमान यही कहता आ रहा है कि मोदी पार्टी का चेहरा हैं और उन्हें चुनाव प्रचार समिति की कमान भी दी गई है.
खुद पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह कई बार कह चुके हैं कि नरेंद्र मोदी इस वक्त बीजेपी में सबसे लोकप्रिय नेता हैं और उनकी लोकप्रियता का फायदा बीजेपी को होगा. राजनाथ अमेरिका से भी मोदी पर से वीजा पाबंदी हटाने की गुजारिश करने की बात कह चुके हैं. ऐसे में मोदी का पोस्टर से गायब होना कई सवाल खड़े करता है. बीजेपी में अंदरखाने मोदी को लेकर विरोध है, ये विरोध आडवाणी के इस्तीफे के बाद खुलकर सामने आ गया था. शिवराज आडवाणी कैंप के समर्थक माने जाते हैं. ये भी तय है कि शिवराज जनआशीर्वाद यात्रा के जरिए मोदी की लोकप्रियता को चुनौती देना चाहते हैं.

2014 में चुनाव नहीं धर्मयुद्ध : जेटली
Our Correspondent :22 July 2013
नई दिल्ली। बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली ने कहा कि आम चुनाव 2014 में केवल राजनीति की लड़ाई नहीं बल्कि नैतिकता और अनैतिकता के बीच एक धर्मयुद्ध होगा. जेटली ने कहा कि यूपीए सरकार घोटालों की सरकार है और इस सरकार में सामने आ रहे भ्रष्टाचार के कई मामलों ने लघु उद्योग का रूप धारण कर लिया है.
सीबीआई के दुरुपयोग पर बोलते हुए जेटली ने कहा कि कांग्रेस अपने मंत्रियों और कांग्रेसी नेताओं को बचाने के लिए सीबीआई का मिसयूज करती है. उन्होंने कहा कि वोट की राजनीति के लिए कांग्रेस आईबी को बदनाम करती है और सीबीआई के जरिए ‘2 जी घोटाला’, ‘रेल घूस कांड’ और दूसरे अन्य मामलों के दोषियों को बचाती है.
राज्य सभा में विपक्ष के नेता अरुण जेटली ने कहा कि यूपीए सरकार में महंगाई दिन ब दिन आसमान छूती जा रही है. आए दिन पेट्रोल डीजल और खाने-पीने की चीजों की कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है जिससे देश की आम जनता का जीना मुहाल हो गया है. जेटली ने भरोसा दिलाया कि अगर आम चुनाव में एनडीए की सरकार बनी तो वो मंहगाई से गरीबों को निजात दिलाएंगे.

1984 दंगा: सज्जन को अदालत का नोटिस
Our Correspondent :22 July 2013
नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट ने 1984 के सिख विरोधी दंगा मामले में सज्जन कुमार को बरी करने के फैसले के खिलाफ सीबीआई की अपील पर कांग्रेस नेता को नोटिस जारी किया है. ये मामला एक भीड़ द्वारा पांच सिखों की हत्या से जुड़ा है.
जस्टिस जी एस सिस्तानी और जस्टिस जी पी मित्तल की पीठ ने जांच एजेंसी की याचिका पर सज्जन कुमार से जवाब तलब किया है. न्यायालय इस मामले में अब 27 अगस्त को आगे विचार करेगा.



शिवराज के पोस्टर से मोदी गायब
Our Correspondent :22 July 2013
भोपाल। आज से मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जन आशीर्वाद यात्रा शुरु कर रहे हैं. इसके साथ ही वो एमपी में विधानसभा चुनाव अभियान का आगाज करेंगे. लेकिन अखबारों में छपे इस यात्रा के विज्ञापन से गुजरात के मुख्यमंत्री और बीजेपी के प्रचार समिति अध्यक्ष नरेंद्र मोदी गायब नजर आ रहे हैं.
इस पोस्टर में बीजेपी के सभी नेता नजर आ रहे हैं, लेकिन मोदी कहीं भी नहीं दिख रहे हैं. इसमें अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी, सुषमा स्वराज, राजनाथ सिंह, अनंत कुमार नजर आ रहे हैं, लेकिन मोदी कहीं नहीं हैं. अब तक बीजेपी हाईकमान यही कहता आ रहा है कि मोदी पार्टी का चेहरा हैं और उन्हें चुनाव प्रचार समिति की कमान भी दी गई है.
खुद पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह कई बार कह चुके हैं कि नरेंद्र मोदी इस वक्त बीजेपी में सबसे लोकप्रिय नेता हैं और उनकी लोकप्रियता का फायदा बीजेपी को होगा. राजनाथ अमेरिका से भी मोदी पर से वीजा पाबंदी हटाने की गुजारिश करने की बात कह चुके हैं. ऐसे में मोदी का पोस्टर से गायब होना कई सवाल खड़े करता है. बीजेपी में अंदरखाने मोदी को लेकर विरोध है, ये विरोध आडवाणी के इस्तीफे के बाद खुलकर सामने आ गया था. शिवराज आडवाणी कैंप के समर्थक माने जाते हैं. ये भी तय है कि शिवराज जनआशीर्वाद यात्रा के जरिए मोदी की लोकप्रियता को चुनौती देना चाहते हैं.

2014 में चुनाव नहीं धर्मयुद्ध : जेटली
Our Correspondent :22 July 2013
नई दिल्ली। बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली ने कहा कि आम चुनाव 2014 में केवल राजनीति की लड़ाई नहीं बल्कि नैतिकता और अनैतिकता के बीच एक धर्मयुद्ध होगा. जेटली ने कहा कि यूपीए सरकार घोटालों की सरकार है और इस सरकार में सामने आ रहे भ्रष्टाचार के कई मामलों ने लघु उद्योग का रूप धारण कर लिया है.
सीबीआई के दुरुपयोग पर बोलते हुए जेटली ने कहा कि कांग्रेस अपने मंत्रियों और कांग्रेसी नेताओं को बचाने के लिए सीबीआई का मिसयूज करती है. उन्होंने कहा कि वोट की राजनीति के लिए कांग्रेस आईबी को बदनाम करती है और सीबीआई के जरिए ‘2 जी घोटाला’, ‘रेल घूस कांड’ और दूसरे अन्य मामलों के दोषियों को बचाती है.
राज्य सभा में विपक्ष के नेता अरुण जेटली ने कहा कि यूपीए सरकार में महंगाई दिन ब दिन आसमान छूती जा रही है. आए दिन पेट्रोल डीजल और खाने-पीने की चीजों की कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है जिससे देश की आम जनता का जीना मुहाल हो गया है. जेटली ने भरोसा दिलाया कि अगर आम चुनाव में एनडीए की सरकार बनी तो वो मंहगाई से गरीबों को निजात दिलाएंगे.

मोदी की उम्मीदवारी पर उद्धव की चुप्पी
Our Correspondent :19 July 2013
नई दिल्ली। चंद दिन पहले ही गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के हिंदू राष्ट्रवादी वाले बयान की तारीफ करने वाली शिवसेना आज मोदी को लेकर चुप्पी साध ली. एनडीए की तरफ से मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने पर शिवसेना ने अपने पत्ते नहीं खोले हैं. शिवसेना के मुताबिक एनडीए में पीएम पद के लिए ऐसे भरोसेमंद चेहरे हैं, जिन पर विचार किया जा सकता है.
दरअसल शुक्रवार को दिल्ली के विज्ञान भवन में एसोचैम के कार्यक्रम में आए शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने मीडिया के सवालों के जवाब में कहा कि एनडीए में पीएम पद के लिए बहुत से भरोसेमंद लोग मौजूद हैं. उनके मुताबिक एनडीए की ओर से एक भरोसेमंद पीएम कैंडिडेट पर राजनाथ सिंह से चर्चा करेंगे
जब पत्रकारों ने ठाकरे से सवाल किया कि मोदी को भरोसेमंद उम्मीदवार के तौर पर नहीं देखते क्या, तो इस मुद्दे पर वो चुप्पी साधे रहे. उद्धव ठाकरे दो दिन के लिए दिल्ली आए हैं. वो आज बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी से भी मिले.

सिंगला की जमानत याचिका पर CBI को नोटिस
Our Correspondent :19 July 2013
नई दिल्ली । आ रेलवे घूस कांड मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने पूर्व रेल मंत्री पवन कुमार बंसल के भांजे विजय सिंगला और तीन अन्य की जमानत याचिकाओं पर सीबीआई को नोटिस जारी कर 30 अगस्त तक जवाब मांगा है.
जस्टिस हिमा कोहली ने सिंगला, रेलवे बोर्ड के निलंबित सदस्य महेश कुमार, बेंगलूर स्थित जी.जी. इलेट्रोनिक्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के महाप्रबंधक नारायण राव मंजूनाथ और कथित बिचौलिये संदीप गोयल की जमानत याचिकाओं पर सीबीआई को नोटिस जारी कर 30 अगस्त को जवाब मांगा है.
चारों आरोपियों के वकीलों ने अदालत को बताया कि इस मामले में गिरफ्तारी के 60 दिनों के भीतर ही आरोपपत्र दाखिल किया जा चुका है और जांच के लिए कुछ बाकी नहीं बचा है, इसलिए आरोपी जमानत के हकदार हैं. इस मामले में जल्द सुनवाई किए जाने की मांग करते हुए अधिवक्ता ने अदालत को बताया कि निचली अदालत द्वारा केवल उन्हें इस आधार पर जमानत से इनकार किया जा रहा है कि सबूतों से छेड़छाड़ की जा सकती है.
उन्होंने कहा कि सभी बरामदगियां की जा चुकी हैं और सभी गवाहों के बयान दर्ज हो चुके हैं. इसलिए कुछ बचा नहीं है. आरोपियों के वकीलों ने तर्क दिया कि हम अदालत से मामले की जल्द सुनवाई की अपील करते हैं क्योंकि आरोपी आरोपपत्र दाखिल होने के बावजूद लंबे समय तक जेल में रहेंगे.
उनकी जमानत याचिकाओं का विरोध करते हुए सीबीआई ने कहा कि जमानत नहीं दिए जाने का कारण केवल सबूतों से छेड़छाड़ करने की आशंका भर नहीं है बल्कि यह अपराध की गंभीरता का भी मामला है.
सिंगला पर आरोप है कि उन्होंने कुमार को रेलवे बोर्ड में उनकी पसंद का सदस्य (इलैक्ट्रिकल) का पद दिलाए जाने के लिए उनसे दस करोड़ रुपये की रिश्वत की मांग की थी. कुमार को हाल ही में सदस्य (स्टाफ) रेलवे बोर्ड पर पदोन्नत किया गया था.
चारों आरोपियों को भारतीय दंड संहिता के तहत आपराधिक साजिश और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों के तहत आरोपित किया गया है. इस मामले में इन लोगों के अलावा छह अन्य एम वी मुरली कृष्णन और सी वी वेणुगोपाल, राहुल यादव, समीर संधीर, सुशील डागा और अजय गर्ग को भी आरोपित किया गया है. केवल गर्ग को सीबीआई की विशेष अदालत ने जमानत दे दी है.

हकीकत से दूर है टीवी पर आलोचना:PM
Our Correspondent :19 July 2013
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने विपक्ष पर निशाना साधा है. पीएम ने कहा है कि टीवी पर बैठकर आरोप लगाना और आलोचना करना अच्छा लगता है, लेकिन ये हकीकत नहीं है. अर्थव्यवस्था की हालत में थोड़ी गिरावट क्या हुई विपक्ष इसे बढ़ा चढ़ाकर बता रहा है. उन्होंने कहा कि आर्थिक हालातों को सुधारने के लिए हम लगातार प्रयास कर रहे हैं.
मनमोहन सिंह ने शुक्रवार को उद्योग जगत को विश्वास दिलाया कि केंद्र सरकार अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए कदम उठा रही है. "मुझे मालूम है कि अर्थव्यवस्था में मंदी के कारण उद्योग जगत बेहद चिंतित है."
उन्होंने कहा, "अगर स्थितियां ठीक नहीं चलतीं, जैसा कि अभी लग रहा है, तो यह सरकार की जिम्मेदारी है कि वह आगे बढ़कर इस दिशा में कदम उठाए. सबसे बड़ी चिंता विदेशी मुद्रा की अस्थिरता को लेकर है."
प्रधानमंत्री ने कहा कि बाजार से बड़ी मात्रा में मुद्रा के प्रवाह के कारण ऐसा हुआ है, जिसके चलते रुपये का अवमूल्यन हुआ है. उन्होंने कहा, "हम डिमांड और सप्लाई दोनों तरफ से करंट अकाउंट डेफिसीट को कम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं."
पीएम ने कहा है कि चालू खाता घाटा को कम किया जा सकता है सिंह ने आंकड़े बताते हुए कहा कि वित्त वर्ष 2012-13 में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 4.7 प्रतिशत है, प्रधानमंत्री ने कहा, "इसे 2.5 फीसदी तक लाना संभव है, और हम इसके लिए प्रयासरत हैं. यही नहीं उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि वित्त वर्ष 2013-14 में ये संभव हो सकेगा.