मध्यप्रदेश डाइजेस्ट Slideshow Image Script
फोटो गैलरी





MP BUDGET 2023-24 AT A GLANCE



कल्याण के लिए चलाई जा रही योजनाओं के लिए धन की कोई कमी नहीं- मुख्यमंत्री डॉ. यादव
29 Feb 2024
एक मार्च को लाड़ली बहनों के खातों में राशि हस्तांतरित की जायेगी सामूहिक विवाह समारोह फिजूलखर्ची रोकने का सशक्त माध्यम है तय समय पर होगा जमीन का नामांतरण, बँटवारा और सीमांकन मुख्यमंत्री आष्टा में आयोजित सामूहिक विवाह समारोह में हुए शामिल विवाह सम्मेलन में 748 कन्याओं का विवाह एवं 179 निकाह हुये
भोपाल:मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव आष्टा में आयोजित सामूहिक विवाह समारोह में शामिल हुए। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने वर-वधुओं को आशीर्वाद देते हुए उज्जवल भविष्य के लिए मंगल कामना की। विवाह सम्मेलन में 748 कन्याओं का विवाह धार्मिक रीति-रिवाज अनुसार संपन्न हुआ। समारोह में 179 मुस्लिम कन्याओं का निकाह भी कराया गया। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने वर-वधु को विवाह योजना के चेक भी प्रदान किये।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने इस अवसर पर कहा कि सामूहिक विवाह सम्मेलन फिजूलखर्ची रोकने एक अच्छा सशक्त है। सामूहिक विवाह सम्मेलन में सीमित संख्या में परिजन के साथ उपस्थित होकर पूरे रीति-रिवाज और धूमधाम से अपने बेटे-बेटियों का विवाह करने से फिजूल खर्ची नहीं होती और इससे धनराशि की बचत भी होती है, जो बच्चों के भविष्य की योजनाओं के लिए उपयोग की जा सकती है। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि दो दिन पहले मैंने भी अपने पुत्र का विवाह किया है। जिसमें मात्र 200 अतिथियों को ही आमंत्रित किया था।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि संपन्न व्यक्ति अपने बच्चों की शादी में अपने और बच्चों के सपने साकार कर लेते हैं। गरीब मां-बाप के लिए यह सपना ही रह जाता और शादी के लिए जमीन बेचने से लेकर कर्ज तक लेना पड़ता है। ऐसे ही गरीब मॉ-बाप की बेटियों की शादी पारंपरिक रीति-रिवाज और धूमधाम से करने के लिए मुख्यमंत्री कन्या विवाह/निकाह योजना चलाई जा रही है। आज निर्धन माता-पिता अपनी बेटी की शादी की चिंता से मुक्त हैं। डॉ. यादव ने कहा कि जनता के कल्याण के लिए चलाई जा रही कल्याणकारी योजना के लिए धन की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत वधु को 55 हजार रूपए शासन की और से दिए जाते हैं, जिसमें 49 हजार रूपए का चेक दिया जाता है।

कल्याण के लिए चलाई जा रही योजनाओं के लिए धन की कमी नहीं

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में प्रदेश तेजी से आगे बढ़ रहा है। डबल इंजन की सरकार होने के कारण विकास की गति तेज हो गई है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के लिए यह प्रसन्नता का विषय है कि आज शाम 4 बजे प्रधानमंत्री श्री मोदी मध्यप्रदेश के 17 हजार 500 करोड़ रुपए के विभिन्न विकास एवं निर्माण कार्यों का भूमि पूजन और लोकार्पण करेंगे। उन्होंने सभी नागरिकों से कहा कि वे प्रधानमंत्री के इस कार्यक्रम से जुड़ें और प्रदेश के विकास में सहभागी बनें। मुख्यमंत्री डॉ. यादव कहा कि 28 फरवरी को प्रधानमंत्री श्री मोदी ने किसानों के खाते में किसान सम्मान निधि की 16वीं किश्त की राशि ट्रांसफर की है। जल्द ही मध्य प्रदेश सरकार भी किसानों के खाते में सम्मान निधि की राशि हस्तांतरित करेगी। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि एक मार्च को लाडली बहनों के खाते में राशि हस्तांतरित की जाएगी। उन्होंने कहा कि गरीब, किसान, मजदूर की भलाई के लिए चलाई जा रही योजनाओं के लिए धन की कमी नहीं आने दी जाएगी।

तय समय पर होगा नामांतरण, बँटवारा और सीमांकन

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि किसानों को अब अपनी जमीन के क्रय विक्रय के पश्चात नामांतरण के लिए भटकना नहीं पड़ेगा सरकार द्वारा नामांतरण, बँटवारा, सीमांकन इन सबके लिए समय निर्धारित कर दिया गया है। अब जमीन खरीदने के साथ ही नामांतरण की व्यवस्था कर दी गई है। किसानों को नामांतरण के लिए पटवारी, तहसीलदार के चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा। मध्यप्रदेश सरकार द्वारा अब साइबर तहसील की व्यवस्था प्रारंभ कर दी गई है जिसके तहत नामांतरण के लिए आवेदन करते ही उनका नाम खाते में दिखने लगेगा और अब राजस्व प्रकरणों का निराकरण निर्धारित समय में हो जाएगा।

जनता के मान-सम्मान में ठेस बर्दाश्त नहीं

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि हमारी सरकार जनता की सरकार है। गांव, गरीब और किसानों की सरकार है। सरकार चलाने का अर्थ है जनता की सेवा करना और उनके दु:ख-दर्द को दूर करना और समस्याओं का समाधान करना है। हमारी सरकार जनता की सरकार है और जनता के मान-सम्मान को बढ़ाने के लिए काम कर रही है। डॉ. यादव ने कहा कि जनता के मान-सम्मान को कोई ठेस पहुँचाएं, यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

सनातन संस्कृति त्याग और सेवा की संस्कृति है

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि सनातन संस्कृति में त्याग और सेवा करने वाले लोगों की पूजा की जाती है। हमारी संस्कृति यह सिखाती है कि प्रत्येक व्यक्ति का सम्मान करना चाहिए। सभी भारतीय हमारी सनातन संस्कृति के संवाहक हैं। उन्होंने कहा कि हमारी गंगा-जमुनी संस्कृति के कारण ही राम मंदिर का शिलान्यास और रामलला की प्राण प्रतिष्ठा पर पूरे देश में हर्षोल्लास का वातावरण निर्मित हुआ और कहीं भी कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। उन्होंने उपस्थित जन-प्रतिनिधियों से कहा कि पद पाकर जरा भी अहंकार नही आने दें और वह अपने कार्य, व्यवहार एवं सादगी और सरलता के साथ लोगों की सेवा करने की जनप्रतिनिधियों से अपील की। उन्होंने सामूहिक विवाह सम्मेलन में वैवाहिक-सूत्र में बंधे सभी नव-दंपतियों को संयुक्त परिवार का महत्व बताते हुए सभी को साथ लेकर चलने और पूरे परिवार को एक माला में पिरोकर रखने के लिए कहा।

राजस्व संबंधी लंबित प्रकरणों के निराकरण के लिए राजस्व महाअभियान

सामूहिक विवाह कार्यक्रम में राजस्व मंत्री श्री करण सिंह वर्मा ने कहा कि किसानों के राजस्व संबंघी लंबित प्रकरणों के निराकरण के लिए राजस्व महाअभियान पूरे प्रदेश चलाया जा रहा है। कार्यक्रम में सांसद महेन्द्र सिंह सोलंकी तथा विधायक श्री गोपाल सिंह इंजीनियर ने भी संबोधित किया।

दूल्हों ने मुख्यमंत्री के साथ ली सेल्फी

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने सामूहिक विवाह समारोह स्थल पर पहुंच कर सबसे पहले दूल्हों का स्वागत किया। उन्होंने दूल्हों पर पुष्प वर्षा की और उन्हें आशीर्वाद दिया। इस दौरान दूल्हे मुख्यमंत्री के साथ सेल्फी लेते रहे।

कार्यक्रम में यह थे उपस्थित

सीहोर विधायक श्री सुदेश राय, पिछड़ा वर्ग आयोग के सदस्य श्री सीताराम यादव, पूर्व विधायक श्री रघूनाथ सिंह मालवीय, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती रचना सुरेंद्र मेवाड़ा, जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री जीवन सिंह मण्डलोई, आष्टा जनपद अध्यक्ष श्रीमती दीक्षा सोनूगुणवान, आष्टा नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती हेमकुंवर मेवाड़ा, श्री रवि मालवीय एवं अन्य वरिष्ठ जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे।



मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने डिंडोरी में हुई वाहन दुर्घटना में व्यक्तियों के असामयिक निधन पर शोक व्यक्त किया
29 Feb 2024
मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख रुपये और घायलों को एक-एक लाख रूपये की आर्थिक सहायता
भोपाल:मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने डिंडोरी में हुई वाहन दुर्घटना में 14 व्यक्तियों के असामयिक निधन पर गहन शोक व्यक्त किया है। उन्होंने ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति व परिजनों को इस वज्रपात को सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि दुर्घटना में मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख रुपये और घायलों को एक-एक लाख रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जायेगी। जिला प्रशासन को घायलों के समुचित उपचार के निर्देश दिए हैं।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा है कि लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्रीमती संपतिया उइके को घायलों के उपचार और सभी आवश्यक व्यवस्थाओं के लिए डिंडोरी भेजा गया हैं। घटना की उच्चस्तरीय जांच की जाकर समुचित कार्रवाई की जाएगी।



मध्यप्रदेश निवेश के लिए तैयार - मुख्यमंत्री डॉ. यादव
29 Feb 2024
सिंगापुर के निवेशक और कंपनियां मध्यप्रदेश में निवेश के लिए इच्छुक
मुख्यमंत्री डॉ. यादव से सिंगापुर के उच्चायुक्त श्री साइमन वांग ने प्रतिनिधि मंडल के साथ की सौजन्य भेंट

भोपाल:मध्यप्रदेश के हर क्षेत्र में निवेश की अपार संभावनाएं हैं। निवेश के लिए इच्छुक सभी संस्थाओं को आवश्यक सहायता उपलब्ध कराई जायेगी। यह बात मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने मुख्यमंत्री निवास पर भारत में सिंगापुर के उच्चायुक्त श्री साइमन वांग के प्रतिनिधिमंडल के साथ सौजन्य भेंट के दौरान कही। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने प्रतिनिधिमंडल का शॉल और पुष्पगुच्छ भेंट कर स्वागत किया।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव को उच्चायुक्त श्री वांग ने बताया कि वे पहली बार मध्यप्रदेश आए हैं। मध्यप्रदेश में नवगठित सरकार ने पिछले 60 दिनों में विकास और जनहित के जो कार्य किए हैं वह प्रशंसा योग्य है। साथ ही प्रदेश में विकास के लिए निवेश के नए द्वार के रूप में उज्जैन में रीजनल इंडस्ट्री कॉन्क्लेव का आयोजन एक ऐतिहासिक निर्णय है। सिंगापुर के निवेशक और कंपनियां भी मध्यप्रदेश में निवेश के लिए इच्छुक हैं और उज्जैन के रीजनल कॉन्क्लेव में भाग लेने के लिए आए हैं।

सिंगापुर की कंपनी सैमकॉम ग्रीन ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश करती है। लोकसभा चुनाव के बाद यह कंपनी पवन ऊर्जा और सौर ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश के लिए मध्यप्रदेश आने की इच्छुक है। प्रतिनिधि मंडल ने बताया कि उन्होंने भोपाल में ग्लोबल स्किल पार्क का भ्रमण किया है और स्किल के तकनीकी कोर्स में सिंगापुर भी एक सांझेदार है। उच्चायुक्त श्री वांग ने मुख्यमंत्री डॉ. यादव को सिंगापुर आने के लिए आमंत्रित भी किया।

प्रतिनिधिमंडल में सिंगापुर के कॉन्सुलेट जनरल श्री चियोंग मिंग फूंग, फर्स्ट सेक्रेटरी (पॉलिटिकल) श्री सीन लिम, फर्स्ट सेक्रेटरी (इकोनॉमिक) श्री विवेक रागुरामन, वाइस कोंसुल (पॉलिटिकल) श्री जाकाउस लिम और पॉलिटिकल एक्सोनॉमिकल विशेषज्ञ सुश्री एरिका मारिया साथ थी।



उज्जैन रीजनल इंडस्ट्री कॉन्क्लेव 1 और 2 मार्च
28 Feb 2024
भोपाल, इन्दौर, उज्जैन सहित 20 जिलों के 56 प्रोजेक्ट का होगा भूमि-पूजन और लोकार्पण
74 हजार करोड़ रुपये से अधिक का होगा निवेश

भोपाल:उज्जैन में 1 व 2 मार्च को रीजनल इंडस्ट्री कॉन्क्लेव में मुख्यमंत्री डॉ.मोहन यादव कुल 56 प्रोजेक्ट का भूमि-पूजन और लोकार्पण करेंगे। यह प्रोजेक्ट प्रदेश के भोपाल, उज्जैन, इन्दौर सहित 20 जिलों में हैं। इन 56 प्रोजेक्ट से 74 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का निवेश आएगा, जिससे 17 हजार से ज्यादा लोगों को रोजगार मिलेगा।

इंडस्ट्री कॉन्क्लेव में अब तक 35 कंपनियों से 74 हजार 711 करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव पर सहमति बन गई है। यह आंकड़ा कॉन्क्लेव तक और बढ़ेगा। कॉन्क्लेव में 800 से अधिक इन्वेस्टर्स शामिल होंगे। साथ ही 30 फॉरेन डेलिगेट्स भी सहभागिता करेंगे। कॉन्क्लेव में बड़े उद्योपतियों को बुलाने और बड़े एमओयू साइन करने की बजाय सरकार का फोकस है कि ज्यादा से ज्यादा प्रोजेक्ट को जमीन पर उतारा जाए। इसी रणनीति के तहत सरकार ऐसी कंपनियों और इंडिविजुअल इन्वेस्टर को प्राथमिकता दे रही है जो तुरन्त निवेश के लिए तैयार हों।

कॉन्क्लेव में निर्यात को बढ़ावा देने के लिए बायर-सेलर मीट पर काफी फोकस किया जा रहा है। अभी तक 3200 से ज्यादा यूनिट् ने बायर-सेलर मीट में रजिस्ट्रेशन कराया है। इसके जरिए प्रदेश के उत्पादकों, कृषि उत्पादों, हैंडलूम, हैंडीक्राफ्ट्स को वैश्विक बाजार तक पहुंच बनाने में मदद मिलेगी।

निवेशकों से मुख्य़मंत्री वन-टू-वन करेंगे मुलाकात

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव निवेशकों से वन-टू-वन चर्चा करेंगे। इससे निवेशक सीधे अपनी बात मुख्यमंत्री के सामने रख सकेंगे। प्रदेश की औद्योगिक नीति के बारे में विस्तार से चर्चा करने और उद्योगपतियों को जानकारी प्रदान करने के लिये पांच सेक्टोरियल सेशन भी होंगे। इसमें विषय विशेषज्ञ उद्योगपतियों को प्रदेश के औद्योगिक परिदृश्य और नीतियों के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे।

उज्जैन और इंदौर संभाग के जिलों में रीजनल इण्डस्ट्री काँक्लेव में 644.97 एकड़ भूमि पर विभिन्न औद्योगिक इकाइयों द्वारा विभिन्न उत्पादों के प्लांट लगाए जाएंगे, जिसमें लगभग 8014.94 करोड़ का निवेश प्रस्तावित है, जिसके माध्यम से 12 हजार से अधिक लोगों को रोजगार प्राप्त हो सकेगा। खाद्य प्रसंस्करण, प्लास्टिक, फार्मास्युटिकल, मेडिकल डिवाइसेस, टेक्नीकल टेक्सटाईल, एडवांस कार्बन, सीमेंट, ऑक्सीजन सिलेण्डर, इथेनॉल, कपड़ा एवं परिधान, डिटर्जेंट इत्यादि उत्पादों पर केन्द्रित इकाईयां उज्जैन और इन्दौर संभाग के जिलों में स्थापित की जाएगी।

विभिन्न औद्योगिक इकाइयों द्वारा लगाई जायेगी प्रदर्शनी

रीजनल इण्डस्ट्री काँक्लेव में विभिन्न औद्योगिक इकाईयों द्वारा अपने उत्पादों पर केन्द्रित प्रदर्शनी लगाई जाएगी, जिसमें प्रमुख रूप से वीईसीवी लिमिटेड द्वारा ऑटो-ओईएम उत्पाद, श्रीजी पॉलीमर द्वारा प्लास्टिक प्रोडक्ट, बेस्ट कॉर्पोरेशन द्वारा गारमेंट, इंवायरो रिसाइकलिंग द्वारा प्लास्टिक रिसाइकलिंग, सुधाकर पाईप्स द्वारा पीवीस पाईप्स, गुजरात गैस लिमिटेड द्वारा गैस डिस्ट्रिब्यूशन, ब्रांड कांसेप्ट द्वारा बैग मेन्युफेक्चरिंग, यासेन द्वारा मेडिकल डिवाइसेस, वनुषी प्रा.लि. द्वारा मेडिकल डिवाइसेस, टेटवेलप्स द्वारा ई-बाईक और ई-साइकल पर केन्द्रित प्रदर्शनी लगाई जाएगी।

12 से अधिक औद्योगिक क्षेत्रों पर किया जाएगा भूमि पूजन और लोकार्पण

मुख्यमंत्री डॉ. यादव द्वारा रीजनल इण्डस्ट्री काँक्लेव में प्रदेश के 12 से अधिक औद्योगिक स्थानों पर विभिन्न इकाईयों का वर्चुअल भूमि पूजन एवं लोकार्पण किया जाएगा। औद्योगिक विकास के प्रति जन-जागरूकता प्रदेश के कोने-कोने पहुंचाने के लिये लोकार्पण एवं भूमि पूजन के इन कार्यक्रमों को स्थानीय स्तर पर बड़ा रूप दिया जा रहा है। साथ ही कार्यक्रमों में स्थानीय जनप्रतिनिधियों और इकाइयों के प्रतिनिधियों के साथ जन-सामान्य भी उपस्थित रहेंगे।



असामयिक वर्षा/ओला वृष्टि से हुई फसल क्षति का सर्वे समय सीमा में करने के निर्देश - राजस्व मंत्री श्री वर्मा
28 Feb 2024
भोपाल:राजस्व मंत्री श्री करण सिंह वर्मा ने राजस्व अधिकारियों को निर्देशित किया है कि 26 एवं 27 फरवरी को हुई असामयिक वर्षा/ ओला वृष्टि से हुई फसल क्षति का सर्वेक्षण समय सीमा में करें। उन्होंने कहा है कि सर्वेक्षण संवेदनशीलता के साथ किया जाये।

गौरतलब है कि 26 एवं 27 फरवरी को पश्चिमी विक्षोभ के कारण जबलपुर, शहडोल, ग्वालियर एवं नर्मदापुरम संभाग के सभी जिलों, रीवा संभाग के कुछ जिलों और सागर, दमोह, खण्डवा, इंदौर, टीकमगढ़, निवाड़ी, छतरपुर, सतना, बड़वानी, पन्ना, भोपाल, विदिशा, रायसेन, खरगोन, सिंगरौली एवं सीधी जिलों में असामयिक वर्षा हुई है।

पूर्व में हुई ओला वृष्टि पर 17 करोड़ 81 लाख की राहत राशि स्वीकृत

मंत्री श्री वर्मा ने बताया है कि पूर्व में 11 से 14 फरवरी 2024 के मध्य हुई असामयिक वर्षा एवं ओलावृष्टि से प्रभावित 8 जिलों में सर्वे के बाद 25 तहसीलों के 196 गाँवों के 16 हजार 481 किसानों को 17 करोड़ 81 लाख रूपये की राहत राशि वितरित करने की कार्यवाही की जा रही है।



मध्यप्रदेश मंत्रीमंडल की बैठक में हुए कई अहम फैसलें
27 Feb 2024
भोपाल:शहरों में सिटी बस सेवाओं के बुनियादी ढांचे के विस्तार और ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिये प्रधानमंत्री ई-बस सेवा योजना के अंतर्गत प्रदेश के 6 नगरीय निकायों भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर, उज्जैन एवं सागर में 552 शहरी ई-बसों का संचालन पीपीपी मॉडल के आधार पर किया जायेगा। इंदौर में 150, भोपाल,जबलपुर और उज्जैन में सौ-सौ, ग्वालियर में 70 और सागर में 32 बसों का संचालन किया जायेगा। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद की आज हुई बैठक में मन्दसौर, राजगढ़, सीधी, सिवनी और बालाघाट जिलों की विभिन्न सिंचाई परियोजनाओं और सार्वजनिक निजी भागीदारी के तहत राज्य के विभिन्न शहरों में वायुसेवा संचालन के प्रस्तावों को भी मंजूरी दी गयी.मंत्रि-परिषद ने अनुसूचित जाति कल्याण विभाग में अनुदान प्राप्त अशासकीय संस्थाओं के शिक्षकों और कर्मचारियों को एक जनवरी, 2006 से छटवें वेतनमान का लाभ देने की स्वीकृति भी दी गई।


पीएम स्वानिधि योजना में 11 लाख से अधिक पथ विक्रेताओं को पहुँचाई गई आर्थिक मदद

26 Feb 2024
पथ विक्रेताओं को दिया गया 1588 करोड़ रूपये का ब्याज मुक्त ऋण
भोपाल।प्रदेश में पीएम स्वानिधि योजना के माध्यम से नगरीय क्षेत्र में व्यापार करने वाले पथ विक्रेताओं को राज्य सरकार के नगरीय विकास विभाग द्वारा ब्याज मुक्त ऋण दिया जा रहा है। योजना के माध्यम से अब तक 11 लाख से अधिक पथ विक्रेताओं को कार्यशील पूंजी के रूप में 1588 करोड़ रूपये की राशि उपलब्ध कराई गई है। इन पथ विक्रेताओं ने सरकार से प्राप्त राशि से अपने व्यापार को और बेहतर किया है। राज्य में चयनित पथ विक्रेताओं को उनकी जरूरत के मुताबित 3 चरणों में ब्याज मुक्त ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है। योजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिये मध्यप्रदेश को देश में इस योजना में प्रथम पुरस्कार भी प्राप्त हो चुका है।

अधिक से अधिक पात्र शहरी पथ विक्रेताओं को पहुँचे लाभ

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री कैलाश विजयवर्गीय ने पीएम स्वानिधि योजना का लाभ प्रदेश के पात्र शहरी पथ विक्रेताओं तक पहुँचाए जाने के निर्देश शहरी निकायों को दिये है। उन्होंने कहा कि

पथ विक्रेताओं को योजना को लाभ

योजना में चरणबद्ध तरीके से पथ विक्रेताओं को 10 हजार, 20 हजार और तीसरे चरण में 50 हजार रूपये तक की कार्यशील पूंजी उपलब्ध करायी जा रही है। चयनित पथ विक्रेताओं को सर्वेक्षण के बाद पहचान पत्र जारी किये गये हैं। प्रदेश में पीएम स्वानिधि योजना के प्रथम चरण में 10 हजार रूपये की ऋण राशि 7 लाख 97 हजार पथ विक्रेताओं को 797 करोड़ रूपये की राशि, द्वितीय चरण में 20 हजार रूपये तक की ऋण राशि 2 लाख 71 हजार शहरी पथ विक्रेताओं को 542 करोड़ रूपये और तीसरे चरण में 50 हजार रूपये की ऋण राशि करीब 50 हजार शहरी पथ विक्रेताओं को 248 करोड़ 53 लाख रूपये का ब्याज मुक्त ऋण प्रदान किया गया है।

डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा

पीएम स्वानिधि योजना के अंतर्गत प्रदेश में डिजिटल लेनदेन को प्रोत्साहित किया जा रहा है। प्रदेश के सभी नगरीय निकायों में विशेष अभियान चलाकर पथ विक्रेताओं को प्रशिक्षित किया जा रहा है। अब तक 4 लाख से अधिक शहरी पथ विक्रेताओं को प्रशिक्षित किया जा चुका है। डिजिटल ट्रांजेक्शन में कैशबैक का भी प्रावधान किया गया है। इसका लाभ राशि के रूप में पथ विक्रेताओं को दिया जा रहा है।


श्री पंकज उधास का निधन, एक लोकप्रिय स्वर साधक की विदाई : मुख्यमंत्री डॉ.यादव
26 Feb 2024
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने प्रसिद्ध गायक पद्मश्री पंकज उधास के निधन पर दुख व्यक्त्किया है। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि प्रसिद्ध गीत और गजल गायक श्री पंकज उधास का निधन गायन के क्षेत्र में बड़ी क्षति है। उनके निधन से एक लोकप्रिय स्वर साधक की विदाई हो गई है। बहुत छोटी उम्र से उन्होंने संगीत केरियर शुरू किया था। चिट्ठी आई है...... चांदी जैसा रंग तेरा और न कजरे की धार.... जैसे मधुर गीतों से उनकी पहचान बनी थी। वे मध्यप्रदेश में अनेक अवसरों पर कार्यक्रम प्रस्तुति के लिए पधारे थे। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने दिवंगत श्री पंकज उधास की आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने पत्रकार श्री अनुराग अमिताभ के पिताजी के निधन पर किया दुख व्यक्त
26 Feb 2024
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने नेशनल न्यूज चैनल इंडिया टीवी के ब्यूरो चीफ एवं वरिष्ठ पत्रकार श्री अनुराग अमिताभ के पिताजी श्री कालिका प्रसाद मिश्रा के निधन पर शोक व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने ईश्वर से स्व.श्री कालिका प्रसाद मिश्रा की दिवंगत आत्मा को शांति और परिजन को यह गहन दु:ख सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना की है।

महाकाल मंदिर परिसर में जल्द ही इलेक्ट्रिक ट्रेन में बैठकर महालोक के दर्शन हो सकेंगे
26 Feb 2024
भोपाल:महाकाल मंदिर परिसर में जल्द ही इलेक्ट्रिक ट्रेन में बैठकर महालोक के दर्शन हो सकेंगे। इस परियोजना पर करीब डेढ़ करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान है। इस सम्बन्ध में एक निजी कंपनी को सर्वे का काम सौंपा है, जो रिपोर्ट बनाकर मंदिर समिति को प्रस्तुत करेगी। फिलहाल त्रिवेणी संग्रहालय से महालोक परिसर में रूद्रसागर किनारे यह ट्रेन चलाने की योजना है।


प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने विश्व स्तरीय रेलवे स्टेशन व रेल सुविधाओं की सौगात दी - मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव

24 Feb 2024
प्रधानमंत्री श्री मोदी ने 41 हजार करोड़ लागत की रेल परियोजनाएं राष्ट्र को की समर्पित
मध्यप्रदेश में 33 से अधिक रेलवे स्टेशनों का होगा पुनर्विकास और मिलेगी 133 रोड ओवर ब्रिज/अंडर पास की सौगात
मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने प्रदेश की रेलवे स्टेशन पुनर्विकास परियोजनाओं की शिलापट्टिकाओं का किया अनावरण
मुख्यमंत्री डॉ. यादव वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कार्यक्रम में सीहोर से हुए शामिल

भोपाल।प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आधुनिक और तेज रेलवे के लिए अमृत भारत स्टेशन योजना के अंतर्गत 41 हजार करोड़ की लागत से देश के 554 रेलवे स्टेशनों के कायाकल्प और 1500 रोड ओवर ब्रिज/अंडरपास के शिलान्यास, उद्घाटन समर्पण कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव सीहोर से शामिल हुए। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने प्रदेश के 33 से अधिक रेलवे स्टेशनों के पुनर्विकास की सौगात देने के लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी का आभार माना। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में प्रदेश में 77 हजार करोड़ रुपए के निर्माण कार्य जारी हैं, प्रदेश में रेलवे सुविधाओं का लगातार विस्तार हो रहा है, और हमें नई तकनीक और नई व्यवस्थाओं के साथ विश्व स्तरीय रेलवे स्टेशन एवं रेल सुविधाएं प्राप्त हो रही हैं। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव सीहोर जिले की जन आभार यात्रा में शामिल हुए। केन्द्रीय रेल, संचार, इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से राष्ट्रीय कार्यक्रम को संबोधित किया।

डबल इंजन की सरकार से हम समर्थ और सक्षम राज्य के लक्ष्य की ओर अग्रसर हैं

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि डबल इंजन की सरकार में मध्यप्रदेश विकास की पटरी पर तेज गति से आगे बढ़ रहा है। मध्यप्रदेश देश के मध्य में स्थित है, रेलवे अधोसंरचना के विकास की यहां बहुत संभावनाएं हैं। यहां देश की दो प्रमुख रेलवे लाइनें तो संचालित हैं हीं, इसके साथ ही सीहोर होकर रामगंज मंडी तथा बुधनी की रेल लाइन बिछाने के कार्य को भी गति दी जा रही है। रेलवे अधोसंरचना के विकास को तेजी से पूरा किया जाएगा, इससे प्रदेश के विकास को और भी गति मिलेगी। हम समर्थ और सक्षम राज्य के लक्ष्य की ओर निरंतर अग्रसर हैं।

भोपाल-सीहोर-रायसेन, भोपाल-विदिशा, उज्जैन-इंदौर और उज्जैन-देवास ट्विन सिटी के रूप में विकसित होंगे

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि उद्योग, रोजगार में बढ़ोत्तरी के साथ ही महिलाओं, युवाओं और कमजोर वर्ग की प्रगति के लिए कई योजनाएं चलाईं जा रही है। किसी भी योजना के लिए धन की कमी नहीं रहने दी जाएगी। सीहोर नगर पालिका द्वारा उनके सम्मुख रखे गए प्रस्तावों को मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने स्वीकृति प्रदान की। उन्होंने कहा कि भोपाल और सीहोर का विकास समन्वित रूप से ट्विन सिटी के आधार पर होगा। दोनों नगरों को जोड़कर आवागमन के साधन, आवासीय परियोजनाएं और रोजगार के अवसरों के समग्र विकास की योजना का क्रियान्वयन किया जाएगा। उज्जैन-इंदौर, उज्जैन-देवास, भोपाल-विदिशा, भोपाल-सीहोर-रायसेन जिले अमृत काल में 2047 तक ट्विन सिटी के रूप में विकसित किए जाएंगे।

प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में आगामी वर्षों में देश चहुंमुखी विकास करेगा

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हुए विकास और प्रगति से दुनिया में देश का नाम स्थापित हुआ है। उन्होंने कहा कि धारा 370 की समाप्ति और मुस्लिम बहनों को तीन तलाक से मुक्ति बड़ी उपलब्धियां है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आगामी वर्षों में देश चहुंमुखी विकास करेगा, अंतरिक्ष में और अधिक उपलब्धियों के साथ ही गरीबों और महिलाओं के जीवन में भी सकारात्मक बदलाव आएगा।

इंदौर, उज्जैन, जबलपुर, खंडवा, सीहोर सहित प्रदेश के 33 रेलवे स्टेशनों का होगा पुनर्विकास

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने प्रदेश के रेलवे स्टेशनों की पुनर्विकास परियोजनाओं की शिलापट्टिकाओं का अनावरण किया। कार्यक्रम में प्रधानमंत्री श्री मोदी ने मध्यप्रदेश के 33 स्टेशनों के पुनर्विकास के लिए शिलान्यास के साथ ही 133 रोड ओवर ब्रिज (आरओबी) एवं अंडरपास का शिलान्यास एवं उद्घाटन किया। प्रदेश के जिन 33 रेलवे स्टेशन का पुनर्विकास के लिए शिलान्यास किया गया, उनमें सीहोर, जबलपुर, बीना, अशोकनगर, खिरकिया, साँची, शाजापुर, ब्यौहारी, बरगवाँ, नरसिंहपुर, पिपरिया, इन्दौर, उज्जैन, मंदसौर, मक्सी, नागदा, नीमच, शुजालपुर, खाचरोद, बालाघाट, छिंदवाड़ा, खण्डवा, मंडला फोर्ट, नैनपुर, सिवनी, अनूपपुर, शहडोल, उमरिया, बिजुरी, मुरैना, हरपालपुर, दतिया और भिंड स्टेशन शामिल हैं। आरओबी में जबलपुर रेल मंडल के दो और भोपाल रेल मंडल के चार आरओबी शामिल हैं। अंडरपास के अंतर्गत जबलपुर में एक एवं भोपाल मंडल में दो स्थानों पर कार्य होंगे। उल्लेखनीय है कि मानवयुक्त समपार फाटकों को खत्म करने के लिए आरओबी/अंडरपास बनाया जाता है।


प्रदेश में सुलभ न्याय के लिये ई सेवा केन्द्र को लोकप्रिय बनाएं

24 Feb 2024
मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय की कम्प्यूटर एवं ई कोर्ट कमेटी की बैठक भोपाल में हुई
भोपाल।प्रदेश में जन सामान्य को न्याय सुलभ से मिल सके, इसके लिये ई सेवा केन्द्र को पंचायत स्तर तक लोकप्रिय बनाने की आवश्यकता है। कोर्ट से जुड़ी डेश बोर्ड पर उपलब्ध जानकारी का अधिक से अधिक उपयोग किया जाए। इससे न्याय प्रक्रिया में बेहतर परिणाम सामने आएंगे। यह निर्देश आज भोपाल के नरोन्हा प्रशासन अकादमी में कम्प्यूटर एवं ई कोट कमेटी की बैठक में दिये गये। बैठक जस्टिस श्री रोहित आर्या और जस्टिस श्री धर्माधिकारी की उपस्थिति में हुई। बैठक में ई कोर्ट से जुड़ी परियोजनाओं की राज्य शासन के विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ चर्चा की गई।

बैठक में बताया गया कि प्रदेश में 21 हजार ग्राम पंचायत पर ई सेवा केन्द्र काम कर रहे हैं। इन सेवा केन्द्रों में कोर्ट से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारियां सामान्यजन को एक ही स्थान पर उपलब्ध कराई जा रही हैं। बैठक में मेडलेपार परियोजना की समीक्षा करते हुए बताया गया कि यह सॉफ्टवेयर 26 जनवरी 2019 से तैयार किया गया है। इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से पोस्ट मार्टम और एमएलसी से जुड़ी जानकारी ऑनलाइन देने की व्यवस्था की गई है। बैठक में बताया गया कि ट्रेफिक रेगुलेशन के लिये वर्चुअल कोर्ट की सुविधा है। इसमें ई चालान जारी किये जाने की व्यवस्था है।

बैठक में मध्यप्रदेश हाई कोर्ट के तैयार किये गये डेश बोर्ड पर चर्चा की गई। बताया गया कि डेश बोर्ड पर न्यायालयीन प्रकरण से संबंधित समग्र जानकारी समय-समय पर अपलोड की जा रही है। जरूरत इस बात की है कि त्वरित न्याय प्रक्रिया के लिये इनका उपयोग हो। बैठक में बताया गया कि खंडवा जिले में पायलेट प्रोजेक्ट के तौर पर ई समन वारंट का कार्य चल रहा है। जल्द ही इसे प्रदेश स्तर पर लागू किया जाएगा।

प्रचार-प्रसार पर जोर

बैठक में निर्देश दिये गये कि ई कोर्ट व्यवस्था के व्यापक प्रचार-प्रसार की आवश्यकता है। प्रदेश में ई सेवा केन्द्र में उपलब्ध सुविधाओं का क्षेत्रीय एवं लोकभाषा में प्रचार-प्रसार किया जाए। बैठक में बताया गया कि इन सुविधाओं ही पहुँच जनसामान्य तक देने के लिये सोशल मीडिया के प्लेटफार्म का उपयोग किया जाएगा।

हिन्दी में करें अधिक से अधिक कार्य

बैठक में तय हुआ कि न्याय प्रक्रिया में अधिक से अधिक कार्य हिन्दी में किया जाए। कोर्ट में अंग्रेजी में दिये गये निर्णयों की हिन्दी में प्रतिलिपि देने की व्यवस्था की गई है। इसकी जानकारी जनसामन्य को दी जाए। बैठक में बताया गया कि प्रदेश में समाधान आपके द्वार कार्यक्रम के बेहतर परिणाम आ रहे हैं। विभिन्न शासकीय अधिकारियों को उनके विभाग से संबंधित प्रकरणों की स्थिति को डेश बोर्ड अपडेट करने के निर्देश दिये गये। बैठक में विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। बैठक का समन्वय सेंट्रल प्रोजेक्ट कॉर्डिनेटर श्री एफ. एच. काज़ी, प्रभारी प्रमुख सचिव विधि श्री उमेश पाण्डव और अतिरिक्त सचिव श्री भरत व्यास ने किया।


प्रदेश में सुलभ न्याय के लिये ई सेवा केन्द्र को लोकप्रिय बनाएं

24 Feb 2024
मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय की कम्प्यूटर एवं ई कोर्ट कमेटी की बैठक भोपाल में हुई
भोपाल।प्रदेश में जन सामान्य को न्याय सुलभ से मिल सके, इसके लिये ई सेवा केन्द्र को पंचायत स्तर तक लोकप्रिय बनाने की आवश्यकता है। कोर्ट से जुड़ी डेश बोर्ड पर उपलब्ध जानकारी का अधिक से अधिक उपयोग किया जाए। इससे न्याय प्रक्रिया में बेहतर परिणाम सामने आएंगे। यह निर्देश आज भोपाल के नरोन्हा प्रशासन अकादमी में कम्प्यूटर एवं ई कोट कमेटी की बैठक में दिये गये। बैठक जस्टिस श्री रोहित आर्या और जस्टिस श्री धर्माधिकारी की उपस्थिति में हुई। बैठक में ई कोर्ट से जुड़ी परियोजनाओं की राज्य शासन के विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ चर्चा की गई।

बैठक में बताया गया कि प्रदेश में 21 हजार ग्राम पंचायत पर ई सेवा केन्द्र काम कर रहे हैं। इन सेवा केन्द्रों में कोर्ट से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारियां सामान्यजन को एक ही स्थान पर उपलब्ध कराई जा रही हैं। बैठक में मेडलेपार परियोजना की समीक्षा करते हुए बताया गया कि यह सॉफ्टवेयर 26 जनवरी 2019 से तैयार किया गया है। इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से पोस्ट मार्टम और एमएलसी से जुड़ी जानकारी ऑनलाइन देने की व्यवस्था की गई है। बैठक में बताया गया कि ट्रेफिक रेगुलेशन के लिये वर्चुअल कोर्ट की सुविधा है। इसमें ई चालान जारी किये जाने की व्यवस्था है।

बैठक में मध्यप्रदेश हाई कोर्ट के तैयार किये गये डेश बोर्ड पर चर्चा की गई। बताया गया कि डेश बोर्ड पर न्यायालयीन प्रकरण से संबंधित समग्र जानकारी समय-समय पर अपलोड की जा रही है। जरूरत इस बात की है कि त्वरित न्याय प्रक्रिया के लिये इनका उपयोग हो। बैठक में बताया गया कि खंडवा जिले में पायलेट प्रोजेक्ट के तौर पर ई समन वारंट का कार्य चल रहा है। जल्द ही इसे प्रदेश स्तर पर लागू किया जाएगा।

प्रचार-प्रसार पर जोर

बैठक में निर्देश दिये गये कि ई कोर्ट व्यवस्था के व्यापक प्रचार-प्रसार की आवश्यकता है। प्रदेश में ई सेवा केन्द्र में उपलब्ध सुविधाओं का क्षेत्रीय एवं लोकभाषा में प्रचार-प्रसार किया जाए। बैठक में बताया गया कि इन सुविधाओं ही पहुँच जनसामान्य तक देने के लिये सोशल मीडिया के प्लेटफार्म का उपयोग किया जाएगा।

हिन्दी में करें अधिक से अधिक कार्य

बैठक में तय हुआ कि न्याय प्रक्रिया में अधिक से अधिक कार्य हिन्दी में किया जाए। कोर्ट में अंग्रेजी में दिये गये निर्णयों की हिन्दी में प्रतिलिपि देने की व्यवस्था की गई है। इसकी जानकारी जनसामन्य को दी जाए। बैठक में बताया गया कि प्रदेश में समाधान आपके द्वार कार्यक्रम के बेहतर परिणाम आ रहे हैं। विभिन्न शासकीय अधिकारियों को उनके विभाग से संबंधित प्रकरणों की स्थिति को डेश बोर्ड अपडेट करने के निर्देश दिये गये। बैठक में विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। बैठक का समन्वय सेंट्रल प्रोजेक्ट कॉर्डिनेटर श्री एफ. एच. काज़ी, प्रभारी प्रमुख सचिव विधि श्री उमेश पाण्डव और अतिरिक्त सचिव श्री भरत व्यास ने किया।


मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड को मिला ‘बेस्ट स्टेट टूरिज्म बोर्ड’ का अवॉर्डचर्चा

23 Feb 2024
नई दिल्ली में SATTE एग्जिबिशन के दौरान मिला सम्मान
भोपाल।मध्यप्रदेश के पर्यटन गंतव्यों के प्रचार-प्रसार, नवाचार करने, पर्यटकों को अनुभव आधारित पर्य़टन प्रदान करने एवं पर्यावरण अनुकूल पर्यटन के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड (एमपीटीबी) को राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित किया गया। ग्रेटर नोएडा में आयोजित हुई देश की प्रमुख ट्रेवल प्रदर्शनी SATTE (साउथ एशियन ट्रेवल एंड टूरिज्म एक्सचेंज) में एमपीटीबी को ‘बेस्ट टूरिज्म स्टेट बोर्ड’ का अवॉर्ड दिया गया है। प्रमुख सचिव पर्यटन और संस्कृति एवं प्रबंध संचालक मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड श्री शिव शेखर शुक्ला ने उपलब्धि पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि, पर्यटन विभाग सदैव ही प्रदेश में भ्रमण के लिए पहुंचने वाले पर्यटकों की सुलभता, सुगमता एवं सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। विभिन्न नवाचर एवं पहलों के माध्यम से अधिक से अधिक पर्यटक ‘हिंदुस्तान के दिल’ को देखने के लिये पहुंचे, ऐसा प्रयास रहता है।

बोर्ड की ओर से यह सम्मान उपसंचालक श्री युवराज पडोले ने ग्रहण किया। उल्लेखनीय है कि तीन दिवसीय प्रदर्शनी में बोर्ड ने प्रमुखता से सहभागिता कर देश एवं विदेशों से आए ट्रेवल एजेंट्स, टूर ऑपरेर्ट्स, होटेलियर्स एवं विभिन्न हितधारकों के समक्ष प्रदेश के पर्यटन स्थलों एवं उत्पादों को प्रचारित किया। एमपीटीबी स्टॉल पर आगंतुकों को सांची, अमरकंटक, नर्मदा के घाटों और अन्य गंतव्यों के वर्चुअल टूर का अनुभव करने का भी मौका मिला। बोर्ड को यह सम्मान पर्यटन, बुनियादी ढांचे के विकास, स्थानीय समुदाय के आर्थिक विकास, राज्य की संस्कृति और विरासत के संरक्षण इत्यादि क्षेत्र में उच्च स्तरीय प्रदर्शन के आधार पर दिया गया है।


मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने सीएम हेल्पलाइन के शिकायतकर्ताओं से की दूरभाष पर चर्चा

23 Feb 2024
आवेदक नवीन माथु को 1 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने के दिए निर्देश नवीन के पिता पैरालिसिस की समस्या से हैं पीड़ित उज्जैन स्मार्ट सिटी कार्यालय स्थित इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल रुम का किया निरीक्षण
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने उज्जैन स्मार्ट सिटी कार्यालय स्थित इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया। उन्होंने कमांड एंड कंट्रोल रूम में प्राप्त सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों की जानकारी ली और उनके निराकरण की स्थिति भी देखी। इस दौरान उन्होंने रेंडमली चयन कर सीएम हेल्पलाइन के शिकायतकर्ताओं से दूरभाष पर चर्चा की। मुख्यमंत्री डॉ.यादव को ग्राम पंचायत अजीमाबादपारदी निवासी सुनैना ने बताया कि उनकी बेटी को लाडली लक्ष्मी योजना की राशि प्राप्त नहीं हो रही हैं। उन्होंने सुनैना को आश्वत किया कि शिकायत के निराकरण के साथ ही आपको हर संभव सहायता उपलब्ध कराई जाएगी।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव को ग्राम पंचायत अक्याजस्सा निवासी नवीन माथु ने बताया कि उनके पिताजी पैरालिसिस की समस्या से पीड़ित है। बैंक द्वारा उनका खाता भी बंद कर दिया गया है जिनसे उन्हें राशि निकालने में समस्या हो रही है। मुख्यमंत्री डॉ यादव ने नवीन माथु से कहा कि आपकी समस्या का शीघ्र निराकरण किया जाएगा। मुख्यमंत्री डॉ यादव आवेदक नवीन माथु से स्मार्ट सिटी कार्यालय में मिले और विस्तार से उनकी समस्या के बारे में जानकारी ली। उन्होंने नवीन को एक लाख रुपए की आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश जिला प्रशासन को दिए। सहायता राशि को लेकर नवीन माथु ने मुख्यमंत्री का आभार माना।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल रूम में अन्य विभागों के कार्यों का निरीक्षण किया और कंट्रोल रूम का प्रभावी ढंग से क्रियान्वन करने के भी निर्देश दिये। इस दौरान विधायक श्री अनिल जैन कालूहेडा, विधायक सतीष मालवीय, कलेक्टर श्री नीरज कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री प्रदीप शर्मा, जिला पंचायत सीईओ मृणाल मीना ,नगर निगम आयुक्त श्री आशीष पाठक सहित अधिकारी एवं जनप्रतिनिधी उपस्थित थे।


औद्योगिक विकास के लिए निवेश को मिलेगा प्रोत्साहन: मुख्यमंत्री डॉ. यादव

23 Feb 2024
रीजनल इंडस्ट्री कॉन्क्लेव, विक्रमोत्सव और विक्रम व्यापार मेले की तैयारियाँ पूर्ण करें
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा है कि रीजनल इंडस्ट्री कॉनक्लेव, विक्रमोत्सव और विक्रम व्यापार मेले की तैयारियों में गति लाएं। सुनियोजित और सुव्यवस्थित ढंग से समस्त आयोजन किए जाएं। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि रीजनल इंडस्ट्री कॉन्क्लेव अर्थात समिट के माध्यम से औद्योगिक विकास के लिए निवेश को प्रोत्साहन मिलेगा। उज्जैन सहित पूरे प्रदेश के औद्योगिक क्षेत्रों को समिट का लाभ मिलेगा। मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने उज्जैन के स्मार्ट सिटी कार्यालय में रीजनल इंडस्ट्री कॉन्क्लेव, विक्रमोत्सव और विक्रम व्यापार मेले की तैयारियों की विस्तृत समीक्षा की। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि प्रदेश में औद्योगिक विकास की बहुत संभावनाएं हैं। इन्हें साकार किया जाएगा। आगामी एक और दो मार्च को उज्जैन की इन्वेटर्स समिट के आधार पर पूरे प्रदेश में अलग-अलग क्षेत्र के उद्योगों की स्थापना की संभावनाएं प्रबल होंगी। विभिन्न क्षेत्रों में निवेश को आमंत्रित करने के लिए यह समिट हो रही है।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि इंडस्ट्रियल समिट के बेहतर आयोजन के लिए अन्य संभावनाएं भी तलाशें। मुख्यमंत्री डॉ यादव ने कहा कि राजा विक्रमादित्य न्याय के प्रतीक थे। विक्रमोत्सव में न्याय पर आधारित कार्यक्रम को भी शामिल किया जाएं। होली के अवसर पर भव्य गैर का भी आयोजन किया जाए। उन्होंने कहा कि उज्जैन की कोठी पैलेस के संबंध में विस्तृत कार्ययोजना तैयार कर पैलेस को स्वावलंबी बनाएं। कॉन्फ्रेंस हॉल, रूफटॉप रेस्टोरेंट, सुविधाजनक पार्किंग व्यवस्था भी प्लान करें। बैठक में कलेक्टर श्री नीरज कुमार सिंह ने पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से कार्यक्रमों की रूपरेखा के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार 1 मार्च को प्रातः 10: 30 बजे कालिदास अकादमी, उज्जैन में मुख्यमंत्री डॉ. यादव के मुख्य आतिथ्य में रीजनल इंडस्ट्री कॉन्क्लेव, विक्रमोत्सव और विक्रम व्यापार मेला, विक्रमादित्य वैदिक घड़ी का लोकार्पण एवं वीर भारत संग्रहालय का शिलान्यास कार्यक्रम होगा। कार्यक्रम की तैयारियां अंतिम चरण में है। उज्जैन में उज्जयनी विक्रम व्यापार मेले के मुख्य आकर्षणों गैर परिवहन वाहनों तथा छोटे परिवहन वाहनों पर पंजीयन शुल्क एवं रोड टैक्स में 50 प्रतिशत की छूट,इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों, विभिन्न कम्पनियों के गैर परिवहन वाहनों एवं परिवहन वाहनों, गारमेन्टस एवं अन्य उपकरणों का उचित मूल्य पर विक्रय विशिष्ट व्यंजनों से संबंधित स्टॉल्स शामिल हैं। सांस्कृतिक एवं मनोरंजन कार्यक्रम भी होंगे। मेले में कृषि एवं संबद्ध क्षेत्र और कुटीर एवं ग्रामोद्योग के संबंध में भी जानकारी दी जाएगी। उज्जयनी विक्रम व्यापार मेले के अंतर्गत ऑटोमोबाइल्स इलेक्ट्रॉनिक्स एवं फूड जोन का कार्यक्रम दशहरा मैदान, व्यवसायिक दुकानें, ऑटोमोबाइल्स झूला एवं फूड जोन पीजीबिटी मैदान तथा सांस्कृतिक कार्यक्रम कालिदास अकादमी त्रिवेणी संग्रहालय एवं पॉलिटेक्निक मैदान में प्रस्तावित किए गए हैं। उज्जैन व्यापार मेला में भाग लेने वाले प्रमुख ऑटोमोबाइल्स इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनियों में प्रमुख रूप से महिंद्रा, टाटा मोटर्स, हुंडई, यामाहा, नेक्सा, रॉयल एनफील्ड, हीरोहोंडा, सैमसंग, पैनासोनिक, एचपी,डेल मारुति सुजुकी आदि शामिल हैं।


जनजातियों के मातृभूमि प्रेम और बलिदान की भावना से युवा प्रेरणा ले: श्री मंगुभाई पटेल

22 Feb 2024
पाठ्यक्रम जनजातीयों के विकास का विजन डॉक्यूमेंट बने राज्यपाल जनजातीय शोध एवं अध्ययन पाठ्यक्रम कार्यशाला में शामिल हुए
भोपाल।राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा कि नई पीढ़ी को जनजाति समुदाय से अपनी मातृभूमि के लिए प्रेम और बलिदान की भावना से प्रेरणा लेनी चाहिए। जननायकों के बलिदान को अपने हृदय में संजोकर रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि जनजातीयों के अध्ययन एवं शोध के लिए शोधार्थियों में जनजातीय समुदाय से जुड़ने, गहराई से समझने की अनुभूति और संवेदनशीलता का होना जरुरी है। उन्होंने कहा कि बदलते समय के साथ जनजातियों की जीवन शैली में होने वाले परिवर्तनों की पहचान करनी चाहिए। उसी के अनुरुप शोध और अध्ययन की प्रणाली को विकसित करे, तभी अध्ययन को प्रासंगिक, प्रमाणिक और प्रभावशाली बनाया जा सकता है।
राज्यपाल श्री पटेल जनजाति शोध एवं अनुशीलन केंद्र दिल्ली के तत्वावधान में राजीव गांधी प्रौद्यौगिकी विश्वविद्यालय के सभागार में आयोजित जनजाति शोध एवं अध्ययन पाठ्यक्रम कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे।
राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि जनजातीय अध्ययन पाठ्यक्रम विजन डॉक्यूमेंट होना चाहिए। उसमें जनजातियों की सांस्कृतिक संप्रभुता, संवैधानिक प्रावधान और ऐतिहासिकता के विविध आयामों का समेकित अध्ययन किया जाना चाहिए। जरूरी है कि पाठ्यक्रम में जनजातियों के जीवन मूल्यों, नैसर्गिक सादगी की विशिष्टताएं भी शामिल हो। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जनजाति समुदाय और उनके जन नायकों के प्रति संवेदनशील हैं। उन्होंने नई शिक्षा नीति में नई पीढ़ी को जनजातीय नायकों के कृतित्व और व्यक्तित्व को समझने का अवसर दिया है। प्रदेश सरकार जनजातीय शोध को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है। राज्यपाल ने जनजातीय शोध एवं अध्ययन के क्षेत्र में मध्यप्रदेश के विश्वविद्यालयों के प्रयासों और विद्यार्थियों की प्रभावी सहभागिता की सराहना की।
कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि उच्च शिक्षा, तकनीकी एवं आयुष मंत्री श्री इन्दर सिंह परमार ने कहा कि जनजातीय समाज देश की धरोहर है। उनकी आध्यात्मिक चिंतन परंपरा और ज्ञान से नई पीढ़ी को सीखना चाहिए। उन्होंने कहा कि शोध एवं अध्ययन संगोष्ठी जनजातियों के लिए अंग्रेजों द्वारा किए गए अप्रमाणिक, अपूर्ण और पूर्वागृहों से जुड़ी मान्यताओं को संशोधित करने और उन्हें वास्तविकता के साथ प्रस्तुत करने का अवसर है।
राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के पूर्व अध्यक्ष श्री हर्षवर्धन सिंह चौहान ने जनजातीय समाज की समृद्ध परंपराओं को देश का गौरव और ताक़त बताया। जनजातीय शोध एवं अनुशीलन केंद्र, दिल्ली के अध्यक्ष श्री डी.एम. किरण ने कहा कि जनजातीय समुदाय के शोध एवं अध्ययन को प्रमाणिकता देने के लिए जनजातीय समुदाय के अनुभवों को आधार बनाना चाहिए। उन्होंने शोध एवं अध्ययन पाठ्यक्रम के लिए देश भर में आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों और कार्यशालाओं की जानकारी देते हुए अनुशीलन केंद्र द्वारा दी जा रही सुविधाओं के बारे में बताया।
राज्यपाल श्री पटेल का कुलपति आर.जी.पी.वी श्री सुनील कुमार गुप्ता ने पुष्पगुच्छ से स्वागत और स्मृति चिन्ह भेंट कर अभिनंदन किया। इस अवसर पर मंचासीन अतिथियों का भी शॉल और श्रीफल से अभिनंदन किया गया। कार्यक्रम में राजभवन जनजाति प्रकोष्ठ के अध्यक्ष श्री दीपक खांडेकर, राज्यपाल के प्रमुख सचिव श्री संजय कुमार शुक्ल, विश्वविद्यालयों के कुलपति, विद्वतजन, शोधार्थी, विद्यार्थी उपस्थित थे।


मुख्यमंत्री डॉ. यादव को भेंट किया गया असम में बना विशेष तिरंगा

22 Feb 2024
दिवंगत सैनिकों की वीर नारियां "सद्भावना कार्यक्रम" में करती है तैयार तिरंगे
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव को आज मुख्यमंत्री निवास के समत्व भवन में असम के तिनसुकिया में हस्तनिर्मित विशेष तिरंगा भेंट किया गया। सैनिक परिवार की वीर नारियां असम में भारतीय सेना की सद्भावना कार्यक्रम अंतर्गत संचालित लायपुली स्टिचिंग सेंटर में यह तिरंगे तैयार करने का कार्य करती हैं। इसमें मशीनों का उपयोग न किया जाकर, तिरंगे पूर्णत: हस्तकला से निर्मित किये जाते हैं। मुख्यमंत्री डॉ. यादव को इंदौर के लिट चौक फाउंडेशन के श्री निखिल दवे और श्री प्रखर दवे ने मुलाकात कर यह विशेष तिरंगा भेंट किया।
लिट चौक फाउंडेशन द्वारा नागरिकों को राष्ट्र के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले जांबाज सिपाहियों और सैन्य अधिकारियों के प्रति सम्मान का भाव जागृत करने के उद्देश्य से केन्द्र में निर्मित तिरंगे झंडे विशिष्ट व्यक्तियों को भेंट किए जाते हैं। तिरंगों के निर्माण से अर्जित आय भी सैनिक परिवारों के कल्याण के लिये व्यय की जाती है। राष्ट्र के लिए सैनिकों के योगदान के पुण्य स्मरण और युवा पीढ़ी को बलिदानियों के शौर्य से अवगत कराने के लिए इंदौर के लिट चौक फाउंडेशन द्वारा कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं।


मध्य प्रदेश में 11 लाख किसानों से खरीदा जाएगा 100 लाख मेट्रिक टन गेहूं

22 Feb 2024
भोपाल।प्रदेश में आगामी महीनों में लगभग 100 लाख मेट्रिक टन गेहूं का उपार्जन किया जाना है। इससे लगभग 11 लाख किसान लाभान्वित होंगे। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कल अधिकारियों से कहा कि गेहूं उपार्जन के लिए भारतीय खाद्य निगम, राज्य नागरिक आपूर्ति निगम तथा मार्कफेड से समन्वय कर बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री ने भारतीय खाद्य निगम के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर दलजीत सिंह तथा महाप्रबंधक विशेष गढ़पाले से भेंट के दौरान यह बात कही। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि खरीदी केन्द्रों पर गेहूं की गुणवत्ता की पुष्टि के लिए विशेषज्ञ अन्य आवश्यक उपकरण की उपलब्धता और किसानों के लिए सुविधाजनक व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।

मैं मुख्यसेवक के रूप में प्रदेश के विकास और जनकल्याण के लिए समर्पित हूँ - मुख्यमंत्री डॉ. यादव

21 Feb 2024
बहन- बेटियों के कल्याण के लिए जारी कोई योजना बंद नहीं होगी : मुख्यमंत्री डॉ. यादव
मार्च माह की पहली तारीख को लाड़ली बहना योजना की जारी होगी किस्त मुख्यमंत्री ने बालाघाट में 761 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया
650 करोड़ रुपए लागत की औद्योगिक इकाईयों का हुआ भूमिपूजन डबल इंजन सरकार प्रदेशवासियों की अपेक्षाएं कर रही है पूरी

भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा है कि बहन-बेटियों के कल्याण के लिए जारी कोई योजना बंद नहीं होगी। लाड़ली बहना योजना में मार्च माह की किस्त पहली तारीख को बहनों के खाते में जारी कर दी जाएगी। मैं अपने आपको मुख्यमंत्री नहीं, जनता का मुख्य सेवक मानता हूँ। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी देश के प्रधानसेवक हैं और मैं मुख्यसेवक के रूप में प्रदेश के विकास और जनकल्याण को समर्पित हूँ। मुख्यमंत्री डॉ. यादव बालाघाट में रोड-शो के बाद जनसभा को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने 650 करोड़ रुपए लागत की हिंदुस्तान ग्रीन एनर्जी लिमिटेड और हिन्दुस्तान टेप्स प्राइवेट लिमिटेड औद्योगिक इकाईयों का भूमिपूजन किया तथा बालाघाट जिले के 761 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया। मुख्यमंत्री डॉ यादव ने विभिन्न योजनाओं के हितग्राहियों को हितलाभ भी वितरित किए। कार्यक्रम में सासंद श्री ढाल सिंह बिसेन, पूर्व मंत्री श्री गौरी शंकर बिसेन और पूर्व राज्य मंत्री श्री रामकिशोर कांवरे एवं जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। मुख्यमंत्री डॉ.यादव ने उपस्थित जनसमुदाय को माताओं- बहनों का सम्मान-गरीबों की सेवा करने और प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में प्रदेश के विकास के लिए प्रतिबद्ध रहने का संकल्प दिलवाया। मुख्यमंत्री डॉ यादव ने हितग्राहियों से संवाद भी किया।

विकास प्रक्रिया में बालाघाट वासियों से सहयोगी बनने का किया आव्हान

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि हमारी डबल इंजन की सरकार तेज गति से विकास को समर्पित है, इसी का प्रमाण है कि बड़ी संभावना वाले बालाघाट जिले में अनेकों विकास कार्यों का भूमिपूजन और लोकार्पण हो रहा है। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने विकास की इस प्रक्रिया में बालाघाट वासियों से सहयोगी बनने का आव्हान किया।

लोकार्पण एवं भूमिपूजन

बालाघाट में किये गये लोकार्पण एवं भूमिपूजन में 150 करोड़ की लागत से पीवीसी इन्सुलेशन इलेक्ट्रिकल मिरगपुर का निर्माण, 300 करोड़ की लागत से गुड़रूघाट में इंथेलॉल इकाई, 200 करोड़ की लागत से सारंडी में सिलिको, फेरो अलॉयज एवं स्टील इकाई का निर्माण, 12 करोड़ 51 लाख की लागत से किन्ही,खुरमुण्डी, अमई, कोचेवाही, बकोड़ा, बकोड़ी, पिपरझरी, धपेरा और बसेगांव के शासकीय हाई स्कूलों में विभिन्न निर्माण कार्य, 2 करोड़ 17 लाख की लागत से तिरोड़ी और मलाजखण्ड के शासकीय महाविद्यालयों में निर्माण कार्य, 11 करोड़ 43 लाख की लागत से झालीवाड़ा से मेहदुली मार्ग में चंदन नदी पर पुल का निर्माण तथा 20 करोड़ 42 लाख की लागत से विभिन्न ग्रामीण सड़क मार्ग निर्माण कार्य शामिल है। बालाघाट में 45 करोड़ 84 लाख रुपए की लागत से निर्मित 45 विकास कार्यों का लोकार्पण किया गया है। इनमें अमृत-2.0 योजना के अंतर्गत 17 कारोड़ रुपए से अधिक की लागत से 20 शहरी पेयजल योजनाओं का लोकार्पण किया गया। इसके साथ ही 14 करोड़ 63 लाख की लागत से 11 नवीन उपस्वास्थ्य केंद्रों में निर्माण कार्य, 6 करोड़ से अधिक की सड़कों का निर्माण एवं सुदृढ़ीकरण, एक करोड़ 38 लाख की लागत से बिरसा कचनारी में कस्तुरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय का निर्माण और 5 करोड़ 24 लाख रुपए लागत से 3 उच्चस्तरीय पुलों का निर्माण कार्य भी शामिल है।

सागर में रानी अवंतीबाई लोधी के नाम पर विश्वविद्यालय का लोकार्पण किया जाएगा

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि जनजाति क्षेत्र में कोदो-कुटकी के उत्पादन को प्रोत्साहित किया जा रहा है। पहले मंत्री परिषद की बैठक में रानी अवंती बाई और रानी दुर्गावती के नाम पर पुरस्कार की घोषणा की गई है। हमारा अतीत गौरवशाली है। गोंडवाना क्षेत्र में रानी दुर्गावती ने स्वाभिमान और आत्मसम्मान को डिगने नहीं दिया। सागर में शीघ्र ही रानी अवंतीबाई लोधी के नाम पर विश्वविद्यालय का लोकार्पण किया जाएगा।

देश में संभावनाओं के आधार पर विकास और भावनाओं पर सनातन संस्कृति का सम्मान हो रहा है

डॉ. यादव ने कहा कि सनातन संस्कृति में वनवासियों को साथ लेकर, प्राणी मात्र से प्रेम करते हुए भगवान श्री राम ने आदर्श पुत्र और आदर्श शासक का उदाहरण स्थापित किया। इसी का परिणाम है कि सभी आज भी राम राज्य की स्थापना की कामना करते हैं। जिसका अर्थ गरीब के जीवन से कष्ट मिटाना, देश को स्वाभिमान के साथ जीना सीखना और हर क्षेत्र में सुव्यवस्था स्थापित करना है। भगवान श्रीराम की प्राण प्रतिष्ठा पर सबको गर्व है। देश में सांस्कृतिक अनुष्ठान का पर्व चल रहा है, देश में सर्वधर्म समभाव ही शासन संचालन का आधार है। प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में देश संभावनाओं के आधार पर विकास के मार्ग पर चल रहा है और भावनाओं के आधार पर सनातन संस्कृति अक्षुण्ण रहते हुए समृद्ध हो रही है।

अयोध्या से अरब देश तक आज हमारे देवालय दैदिप्यमान हैं

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि देशवासी भारत को आगे बढ़ाने के लिए समर्पित हैं। स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि 21वीं शताब्दी भारत की होगी। आज देश की अर्थव्यवस्था निरंतर प्रगति कर रही है, दुनिया के सभी प्रमुख देश भारत से मित्रता को आतुर हैं। आज अयोध्या से अरब देश तक हमारे देवालय दैदिप्यमान हैं। यही कामना है कि देश और सनातन संस्कृति इसी तरह आगे बढ़ती रहे। भारत विश्व की पहले नंबर की अर्थव्यवस्था बने, इस उद्देश्य के लिए मध्य प्रदेश सरकार, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कार्यरत रहेगी और लोकतंत्र को सशक्त करेगी। मध्य प्रदेश देश का पहले नंबर का राज्य बनेगा।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव विधानसभावार दौरे कर योजनाओं के क्रियान्वयन का अवलोकन करेंगे

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि वे विधानसभा वार दौरा कर विकास और जनकल्याण गतिविधियों का अवलोकन करेंगे तथा स्थानीय लोगों से संपर्क करेंगे। राज्य सरकार संवेदनशील है और गरीबों के हित को समर्पित है तथा पारदर्शी, जवाबदेह व्यवस्था स्थापित करने और सामान्य जन के मान सम्मान को सुरक्षित रखने के लिए प्रतिबद्ध है।

खुले में मांस-मछली के विक्रय पर प्रतिबंध

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि प्रदेश में खुले में मांस के विक्रय पर प्रतिबंध है। खुले में मांस का विक्रय स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक है। मांस विक्रय के लिए पृथक से मार्केट विकसित किए जाएंगे। इसके लिए नगरीय निकायों को आवश्यकतानुसार राशि उपलब्ध कराई जाएगी।

प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में विकास और जनकल्याण के लिए राज्य सरकार कार्यरत

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के देश के विकास में योगदान का स्मरण किया। उन्होंने कहा कि चुनी हुई सरकार से लोगों की आशाएं- अपेक्षाएं होती हैं और सरकार की विकास के लिए जवाबदारी होती है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने जनता की सभी आशाओं, अपेक्षाओं को पूरा किया है। देश के सामने विद्यमान सभी चुनौतियों का दृढ़ता पूर्वक सामना किया है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने तीन तलाक के मामले में सही निर्णय लेकर मुस्लिम बहन-बेटियों के हितों की भी रक्षा की है। राज्य सरकार विकास और जनकल्याण के लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में कार्यरत है।

भूमि पूजन तथा लोकार्पण से बालाघाट क्षेत्र में विकास की गति तेज होगी

क्षेत्रीय सांसद श्री ढाल सिंह बिसेन ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी और मुख्यमंत्री डॉ. यादव की डबल इंजन सरकार से प्रदेशवासियों की जो अपेक्षाएं हैं, वह सब पूरी होंगी। देश और प्रदेश में तेजी से विकास हो रहा है। आगामी समय में विकास की गति और तेज होगी तथा नई लोक कल्याणकारी योजनाओं को भी स्वीकृतियां मिलेंगी। मुख्यमंत्री डॉ. यादव का पूर्व राज्य मंत्री श्री रामकिशोर कांवरे ने बालाघाट जिले को आयुर्वेद महाविद्यालय की सौगात पर सहमति के लिए आभार माना। उन्होंने कहा कि आज हुए भूमि पूजन तथा लोकार्पण से बालाघाट क्षेत्र में विकास की गति तेज होगी और रोजगार के नए अवसरों का सृजन होगा। पूर्व मंत्री श्री गौरी शंकर बिसेन ने मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव का अभिनंदन किया।


मंत्री श्री सारंग ने निर्माणाधीन ऐशबाग आरओबी का किया निरीक्षण

21 Feb 2024
जून माह के अंत तक बनकर तैयार हो जायेगा ऐशबाग आरओबी
भोपाल।खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग ने बुधवार को नरेला विधानसभा अंतर्गत निर्माणाधीन ऐशबाग आरओबी का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान मंत्री श्री सारंग ने वर्तमान स्थिति की जानकारी ली तथा संबंधित अधिकारियों को शीघ्र एवं गुणवत्तापूर्ण कार्य करने के निर्देश दिए। इस दौरान लोक निर्माण विभाग (सेतु निर्माण) के मुख्य अभियंता की गैर-मौजूदगी को लेकर मंत्री श्री सारंग ने फोन कर नाराजगी व्यक्त की। निरीक्षण में भोपाल महापौर श्रीमती मालती राय, रेलवे एवं लोक निर्माण विभाग (सेतु निर्माण) के अधिकारी उपस्थित थे।

पाठ्य पुस्तकों का वितरण समय पर होगा

स्कूल शिक्षा मंत्री श्री सिंह ने कहा कि सरकारी स्कूलों में बच्चों को नि:शुल्क पाठ्य पुस्तके समय पर वितरित की जायेंगी। इसके निर्देश विभागीय अधिकारियों को दिये गये है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में बच्चों के ड्रॉप आउट रेट को कम करने के भी प्रयास किये जा रहे है। उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूलों में बच्चों के अभिभावकों और शिक्षकों के बीच नियमित संवाद व्यवस्था को सुनिश्चित किया जा रहा है।

चीफ इंजीनियर की अनुपस्थिति पर नाराजगी व्यक्त

मंत्री श्री सारंग ने लोक निर्माण विभाग (सेतु निर्माण) के चीफ इंजीनियर को निरीक्षण की सूचना होने के बावजूद नदारद रहने पर फोन कर नाराजगी व्यक्त की और कहा कि आपने निर्माणाधीन सेतु का कब-कब निरीक्षण किया है। निरीक्षण के अभाव में स्तरहीन गुणवत्ता का निर्माण कार्य हो रहा है। चीफ इंजीनियर द्वारा जानकारी नहीं देने पर श्री सारंग ने अनुशासनात्मक कार्यवाही के लिये विभाग को निर्देश दिये। उन्होंने इसको लेकर प्रमुख सचिव लोक निर्माण से भी बात की। ज्ञात हो कि उच्च अधिकारियों द्वारा सुपरविजन नहीं करने से पूर्व में भी एक कॉलम का निर्माण तय मापदंडों के अनुरूप नहीं हुआ था, जिसे मंत्री श्री सारंग के निर्देश पर तोड़कर पुन: निर्माण कराया गया था।

जून माह के अंत तक बनकर तैयार हो जायेगा ऐशबाग आरओबी

मंत्री श्री सारंग ने कहा कि नरेला विधानसभा में नागरिकों की सुविधाओं के लिये सबसे अधिक फ्लाई-ओवर्स का निर्माण किया गया है। ऐशबाग सहित आसपास के यात्रियों के आवागमन की यात्रा सुगम हो, इसके लिये ऐशबाग आरओबी का निर्माण कार्य प्रगति पर है। निर्माण को लेकर एक कैलेंडर तैयार किया गया है, जिससे रेलवे एवं लोक निर्माण विभाग (सेतु निर्माण) के बीच समन्वय के साथ कार्य हो सके। जून माह के अंत तक ऐशबाग आरओबी बनकर तैयार हो जायेगा। उन्होंने बताया कि ऐशबाग रेलवे क्रासिंग बंद होने के कारण नागरिकों को लगभग डेढ़ किलोमीटर का चक्कर काटकर आना पड़ता है। निर्माण के बाद पुराने भोपाल एवं नए शहर की ओर भारी यातायात भार कम होगा। इस आरओबी से आसपास की कॉलोनियों में रहने वाले लगभग डेढ़ लाख से ज्यादा रहवासियों को भी सीधा फायदा होगा।


स्कूल शिक्षा मंत्री श्री सिंह ने जारी की प्रारंभिक शिक्षा की गुणवत्ता रिपोर्ट

21 Feb 2024
शैक्षणिक गुणवत्ता के अंको के आधार पर तय हुई जिलों की रैंकिंग
भोपाल।स्कूल शिक्षा मंत्री श्री उदय प्रताप सिंह ने आज मंत्रालय में प्रारंभिक शिक्षा स्तर पर जिलों में सम्पादित किये गये कार्यों के आधार पर जिलों की शैक्षणिक रिपोर्ट जारी की। यह रिपोर्ट दिसम्बर 2023 तक के आंकड़ों के आधार पर तैयार की गई है। इस मौके पर संचालक राज्य शिक्षा केन्द्र श्री धनराजू एस भी मौजूद थे। स्कूल शिक्षा मंत्री श्री सिंह ने कहा कि समग्र शिक्षा अभियान में तैयार की गई रिपोर्ट स्कूल शिक्षा के गुणात्मक सुधार में महत्वपूर्ण रोल अदा करेगी। उन्होंने कहा कि घुमंतु जाति के परिवारों के स्कूल जाने वाले बच्चों की पढ़ाई में रूकावट न आयें इसके लिये ऐसा कार्ड तैयार किया जायेगा, जिसके आधार पर एक स्थान छोड़कर अन्य स्थान जाने पर कार्ड के आधार पर बच्चें को स्कूल में एडमिशन दिया जायेगा। मंत्री श्री सिंह ने कहा कि पिछले दो दशकों में स्कूल शिक्षा के गुणात्मक सुधार के लिये ठोस प्रयास किये गये है। प्रदेश में सीएम राईज स्कूल और पीएमश्री स्कूल खोले जा रहे है। इन स्कूलों में विद्यार्थियों को विश्वस्तरीय सुविधा उपलब्ध कराये जाने के प्रयास किये जा रहे है। स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों की यूनिफार्म व्यवस्था के संबंध में उन्होंने बताया कि प्रदेश के 22 जिलों में यूनिफार्म बनाने का कार्य स्व सहायता समूह के माध्यम से किया जा रहा है। शेष जिलों में बच्चों के बैंक खातों में यूनिफार्म की राशि हस्तांरित की जा रही है।

पाठ्य पुस्तकों का वितरण समय पर होगा

स्कूल शिक्षा मंत्री श्री सिंह ने कहा कि सरकारी स्कूलों में बच्चों को नि:शुल्क पाठ्य पुस्तके समय पर वितरित की जायेंगी। इसके निर्देश विभागीय अधिकारियों को दिये गये है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में बच्चों के ड्रॉप आउट रेट को कम करने के भी प्रयास किये जा रहे है। उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूलों में बच्चों के अभिभावकों और शिक्षकों के बीच नियमित संवाद व्यवस्था को सुनिश्चित किया जा रहा है।

प्रारंभिक शिक्षा रिपोर्ट

रिपोर्ट में बताया गया है कि सीधी जिले की रैंकिंग पिछले वर्ष 46वें नम्बर पर थी। इस वर्ष दिसम्बर 2023 में सीधी की रैंकिंग बढ़कर 12वीं हो गई। श्योपुर जिले में शैक्षणिक गुणवत्ता में गिरावट दर्ज हुई है। इसकी रैंकिंग पिछले वर्ष 22वें स्थान की थी, जो इस वर्ष 45वें स्थान की हो गई। यह रिपोर्ट बच्चों के नामांकन और ठहराव, सीखने के परिणाम और गुणवत्ता, शिक्षक व्यवसायिक विकास, समानता, अधोसंरचना तथा सुविधाएँ, सुशासन प्रक्रियाएँ एवं वित्तीय प्रबंधन और नवभारत साक्षरता कार्यक्रम पर तैयार की गई है।


प्रधानमंत्री श्री मोदी ने प्रदेश के विश्वविद्यालयों को दीं 400 करोड़ रुपए की सौगातें

20 Feb 2024
जम्मू से डिजिटल लॉन्च कार्यक्रम में जारी की राशि राज्यपाल डॉ. पटेल तथा मुख्यमंत्री डॉ. यादव बरकतउल्ला विश्वविद्यालय से क्रार्यक्रम में हुए शामिल
मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने माना आभार
बरकतउल्ला, विक्रम और जीवाजी विश्वविद्यालयों को मिलेंगे 100-100 करोड़ रुपए

भोपाल ।प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा प्रधानमंत्री उच्चतर शिक्षा अभियान अंतर्गत जम्मू से परियोजनाओं के डिजिटल लॉन्च कार्यक्रम में राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल तथा मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव, बरकतउल्ला विश्वविद्यालय भोपाल के ज्ञान विज्ञान भवन से शामिल हुए। राज्यपाल डॉ पटेल तथा मुख्यमंत्री डॉ यादव ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने मध्यप्रदेश के विश्वविद्यालयों को 400 करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत करने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त किया है।

विश्वविद्यालयों में होंगे नवाचार,अनुसंधान और अधोसंरचना विकास के महत्वपूर्ण कार्य

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि इस राशि से विश्वविद्यालयों में नवाचार,अनुसंधान और अधोसंरचना विकास के महत्वपूर्ण कार्य सम्पन्न हो सकेगें। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी तथा केंद्रीय शिक्षा मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान द्वारा मध्यप्रदेश की बेहतर उच्च शिक्षा प्रणाली के लिए दिए गए सहयोग के लिए उन्हें धन्यवाद देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश उनकी आशाओं और अपेक्षाओं पर खरा उतरेगा और हम प्रदेश को उच्च शिक्षा के क्षेत्र में देश के शीर्ष राज्यों में शामिल करेंगे। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि जम्मू-कश्मीर को प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा दी गई सौगातों से वहां विकास के नए युग का आरंभ होगा। देश की एकता, अखण्डता के लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी का यह योगदान अविस्मरणीय रहेगा।

देवी अहिल्या, रानी दुर्गावती, अवधेश प्रताप सिंह, पंडित एस एन शुक्ल और महाराजा छत्रसाल बुंदेलखण्ड विश्वविद्यालय को 20-20 करोड़ रुपए की सहायता स्वीकृत

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा प्रधानमंत्री उच्चतर शिक्षा अभियान (पीएम-उषा) के अंतर्गत जम्मू में आयोजित कार्यक्रम में जम्मू एम्स सहित 32 हजार करोड़ की 220 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण, उद्घाटन और शिलान्यास किया गया। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री उच्चतर शिक्षा अभियान से युवाओं को औद्योगिक प्रशिक्षण मिलने के साथ-साथ नई शिक्षा नीति 2020 का उद्देश्य भी पूरा होगा। कार्यक्रम में मल्टी डिसिपिनरी एजूकेशन एवं रिसर्च यूनिवर्सिटीज(मेरू)घटक के अंतर्गत बरकतउल्ला, विक्रम तथा जीवाजी विश्वविद्यालय को 100-100 करोड़ रुपए की सहायता स्वीकृत की गई है। इसी प्रकार ग्रान्ट टू स्ट्रेंथन यूनिवर्सिटीज(जीएसयू)घटक में देवी अहिल्या, रानी दुर्गावती, अवधेश प्रताप सिंह, पंडित एस एन शुक्ल और महाराज छत्रसाल बुंदेलखण्ड विश्वविद्यालय को 20-20 करोड़ रुपए की सहायता स्वीकृत की गई है। इससे विश्वविद्यालयों में अधोसंरचना विकास के लिए प्रशासनिक भवन, अकादमिक भवन, रिसर्च लैब, लाइब्रेरी बिल्डिंग,कम्प्यूटर लैब, हॉस्टल और क्लासरूम का निर्माण होगा। साथ ही राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय काँफ्रेंस, सेमिनार, वेबिनार, शैक्षणिक भ्रमण, संकाय संवर्धन और व्यवसायिक प्रशिक्षण की सुविधा उपलब्ध होगी। कार्यक्रम में पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्रप्रभार) श्रीमती कृष्णा गौर, अपर मुख्य सचिव श्री के सी गुप्ता, निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग के चेयरमेन डॉ. भरत शरण सिंह, कुलपति श्री के के जैन विशेष रूप से उपस्थित थे।


मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने भाई उद्धवदास मेहता जी की पुण्यतिथि पर पुष्पांजलि अर्पित की

20 Feb 2024
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने "वैदिक काल से विलीनीकरण तक भोपाल" पुस्तक का किया विमोचन
भोपाल ।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने भाई उद्धव दास मेहता की पुण्यतिथि पर आईटीसी कमला पार्क स्थित उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की तथा भाई उद्धव दास मेहता स्मृति न्यास द्वारा प्रकाशित पुस्तक "वैदिक काल से विलीनीकरण तक भोपाल" का विमोचन भी किया।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने भोपाल के विकास और राजधानी बनाने में भाई उद्धवदास मेहता के योगदान का उल्लेख करते हुए कहा कि वे हिन्दू महासभा, जनसंघ और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में सक्रिय रहे। उन्होंने 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन को इस अंचल में नेतृत्व प्रदान किया, वे धर्म ग्रंथों के अध्ययन के लिए विशेष रूप से बनारस गए। सनातन संस्कृति के मूल्यों को बनाए रखने में उनके योगदान और कठिन परिस्थितियों में हिन्दू उत्सव समिति में उनकी सक्रियता पर हमें गर्व है। भाई उद्धवदास मेहता ने पूरे समाज को दिशा दिखाई।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि यह बदलते दौर का भारत है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश में सांस्कृतिक अनुष्ठान का यज्ञ चल रहा है, सम्राट विक्रमादित्य, राजा भोज के समृद्ध और गौरवशाली अतीत की धरोहर को सहेजने और उसे पुष्पित-पल्लवित करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि पुस्तक "वैदिक काल से विलीनीकरण तक भोपाल" के लेखक श्री रमेश शर्मा ने तथ्यों का समग्रता में प्रस्तुतिकरण और विश्लेषण किया है।
इस अवसर पर पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्रीमती कृष्णा गौर, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री श्री नरेंद्र शिवाजी पटेल, सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, विधायक श्री भगवान दास सबनानी, महापौर श्रीमती मालती राय, पूर्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, पूर्व राज्यसभा सदस्य श्री रघुनंदन शर्मा एवं श्री राहुल कोठारी सहित अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


उज्जैन विक्रमोत्सव मेला व्यापार 2024 में मोटरयान कर की दर में 50 प्रतिशत की छूट का निर्णय

19 Feb 2024
आंवलिया मध्यम सिंचाई परियोजना के लिए 224 करोड़ 46 लाख रूपये की प्रशासकीय स्वीकृति मुख्यमंत्री डॉ. यादव की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद के निर्णय
भोपाल ।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद की बैठक मंत्रालय में हुई। मंत्रि-परिषद द्वारा उज्जैन विक्रमोत्सव व्यापार मेला 2024 में गैर- परिवहन यानों तथा हल्के परिवहन यानों के विक्रय पर जीवनकाल मोटरयान कर की दर में 50 प्रतिशत की छूट का निर्णय लिया गया। निर्णय के अनुसार विक्रीत वाहनों का क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय, उज्जैन से स्थाई पंजीयन कराने पर छूट दी जाएगी। उज्जैन के बाहर से आने वाले ऑटोमोबाइल व्यवसायी क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय, उज्जैन में व्यवसाय प्रमाण-पत्र प्राप्त करने तथा मेला प्रांगण में अपनी भौतिक उपस्थिति सुनिश्चित करने के बाद वाहन विक्रय कर सकेंगे।

इंदौर-उज्जैन 4-लेन को 6-लेन मय पेव्हड शोल्डर में विकसित करने 1692 करोड़ रूपये की स्वीकृति

मंत्रि-परिषद द्वारा इंदौर-उज्जैन 4-लेन मार्ग को 6-लेन मय पेव्हड शोल्डर में विकसित करने की स्वीकृति दी गई हैं। इसकी लम्बाई 45.475 कि.मी. है। योजना अंतर्गत 1692 करोड़ रूपये लागत से 45.475 कि.मी. के इंदौर-उज्जैन 4-लेन मार्ग को 6-लेन मय पेव्हड शोल्डर में हाईब्रिड एन्यूटी मॉडल (40:60) अंतर्गत निर्माण किया जाना है। परियोजना में समस्त स्ट्रक्चर्स का 6-लेन में निर्माण के साथ अतिरिक्त 1.10 किलोमीटर लम्बाई में शनि मंदिर एप्रोच रोड को 3-लेन में चौड़ीकरण किया जायेगा। परियोजना में महत्वपूर्ण जंक्शनों को ग्रेडसेपरेटर (वीयूपी और फ्लाईओवर) के साथ निर्माण किया जायेगा। मार्ग के एकरेखण में आने वाले दो फ्लाई ओवर, छः अंडरपास एवं आठ वृहद जंक्शन का निर्माण परियोजना के अंतर्गत किया जायेगा। योजना अंतर्गत आने वाले सभी जंक्शन का सुधार, सड़क सुरक्षा के लिये आवश्यक उपाय, रोड मार्किंग एवं रोड फर्नीचर इत्यादि का कार्य करवाया जायेगा।

लोक सेवा आयोग में दो सदस्यों की नियुक्ति को मंजूरी

मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग में 1 अध्यक्ष एवं 4 सदस्यों सहित कुल 5 पद स्वीकृत हैं और वर्तमान में एक अध्यक्ष एवं दो सदस्य कार्यरत हैं। मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग में सदस्यों के दो रिक्त पद पर चयन समिति की अनुशंसा पर मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग में डॉ. एच.एस. मरकाम, सहायक प्राध्यापक (दंत रोग), मेडिकल कॉलेज, जबलपुर एवं डॉ. नरेन्द्र कुमार कोष्टी, सहायक प्राध्यापक (अर्थशास्त्र), शासकीय महाकौशल कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय, जबलपुर को सदस्य नियुक्त करने का अनुमोदन मंत्रि-परिषद ने किया।

आंवलिया मध्यम सिंचाई परियोजना के लिए 224 करोड़ 46 लाख रूपये की पुनरीक्षित प्रशासकीय स्वीकृति

मंत्रि-परिषद द्वारा खण्डवा जिले की तहसील खालवा के ग्राम रोशनी के समीप घोड़ापछाड़ नदी पर आंवलिया मध्यम सिंचाई परियोजना सिंचित क्षेत्र 6703 हेक्टेयर रबी के लिए 224 करोड़ 46 लाख रूपये कीपुनरीक्षित प्रशासकीय स्वीकृति दी गई है। उल्लेखनीय है कि वर्ष 2017 में उक्त परियोजना अंतर्गत 5 हजार हेक्टेयर सिंचित क्षेत्र के लिये परियोजना लागत 165 करोड़ 8 लाख रूपये की स्वीकृति प्रदान की गई थी। भू-अर्जन के विशेष पैकेज, सिंचित क्षेत्र में 1703 एकड़ की वृद्धि, निर्माण लागत में वृद्धि आदि से लागत में 59 करोड़ 38 लाख रूपये की वृद्धि की गई है। पुनरीक्षित परियोजना के लिये 224 करोड़ 46 लाख रूपये की पुनरीक्षित प्रशासकीय स्वीकृति दी गई हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों में अधोसंरचना विकास कार्य के लिए 1500 करोड़ का प्रावधान

ग्रामीण क्षेत्रों में अधोसंरचना विकास कार्य "मुख्यमंत्री ग्राम सड़क एवं अधोसंरचना विकास योजना" के नये कार्यों को स्वीकृत करने के लिए पूंजीगत मद में 1500 करोड़ रूपये की व्यवस्था वर्ष 2023-24 के लिये की जायेगी। विभाग द्वारा सूचकांक- 1 की अधिकतम सीमा 3 से बढ़ाकर 7 करने के प्रस्ताव का मंत्रि-परिषद ने अनुमोदन दिया।

दो नये विश्वविद्यालय

मंत्रि-परिषद द्वारा मध्यप्रदेश विश्वविद्यालय (द्वितीय संशोधन) विधेयक- 2024 के माध्यम से मध्यप्रदेश विश्वविद्यालय अधिनियम, 1973 में संशोधन की स्वीकृति दी गई हैं। संशोधन अनुसार नए क्रांतिसूर्य टंट्या भील विश्वविद्यालय अंतर्गत खरगोन एवं अन्य जिले तथा नए तात्या टोपे विश्वविद्यालय अंतर्गत गुना, अशोकनगर सहित अन्य जिलों के महाविद्यालयों को शामिल करने का निर्णय लिया गया हैं। इस संबंध में मध्यप्रदेश विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक का अनुमोदन मंत्रि-परिषद द्वारा किया गया।


सुकन्या समृद्धि योजना एक अभिनव योजना : मुख्यमंत्री डॉ. यादव

19 Feb 2024
मुख्यमंत्री डॉ यादव को भगवान श्री राम दरबार का चित्र भेंट
भोपाल ।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव से मंत्रालय में मुख्य पोस्ट मास्टर जनरल मध्यप्रदेश श्री बृजेश कुमार ने भेंट कर मध्य प्रदेश डाक परिमंडल की गतिविधियों की विस्तार पूर्वक जानकारी दी। मुख्यमंत्री डॉ. यादव को श्री बृजेश कुमार ने भगवान श्री राम दरबार का चित्र भेंट किया। मुख्यमंत्री डॉ यादव ने कहा कि बेटियों और बहनों के कल्याण के लिए संचालित बचत एवं बीमा योजनाओं की समीक्षा के लिए महिला बाल विकास और डाक विभाग की संयुक्त बैठक बुलाई जाएगी। मुख्यमंत्री डॉ.यादव को डाक विभाग द्वारा हाल ही में राममंदिर पर जारी की गई विशेष डाक टिकिट भी भेंट की गईं। इस अवसर पर मुख्यमंत्री डॉ. यादव को मध्यप्रदेश डाक परिमंडल के अंतर्गत डाक घरों द्वारा सुकन्या समृद्धि योजना सहित संचालित की जा रही अन्य बचत योजनाओं एवं शासन की महत्वपूर्ण योजनाओं के क्रियान्वयन का विवरण भी दिया गया। मुख्यमंत्री डॉ यादव ने कहा कि सुकन्या समृद्धि योजना एक अभिनव योजना है। बेटियों के हित में मध्यप्रदेश में योजना का अच्छा क्रियान्वयन हो रहा है, जो सराहनीय है। डाक विभाग द्वारा बेटियों और बहनों के हित में अन्य बचत और बीमा योजनाओं का भी सभी जिलों में विस्तार होना चाहिए। यह महिला सशक्तिकरण के लिए महत्वपूर्ण कदम होगा। मुख्यमंत्री डॉ यादव ने कहा कि महिला बाल विकास और डाक विभाग के अधिकारियों की संयुक्त बैठक में शीघ्र ही इन योजनाओं की समीक्षा कर बेहतर परिणाम प्राप्त करने का कार्य किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि सुकन्या समृद्धि योजना बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ योजना का एक हिस्सा है। इसमें दस वर्ष से कम आयु की बालिका के माता- पिता खाता प्रारंभ कर सकते हैं। न्यूनतम डिपाजिट राशि 250 रुपए है। खाता 21 वर्ष में मैच्योर होता है। यह योजना बेटियों की शिक्षा और उनके शादी ब्याह के लिए रकम जुटाने में मदद करती है। माता-पिता चाहें तो 18 साल की उम्र में बेटी की शादी होने तक खाते को संचालित कर सकते हैं। योजना में ब्याज दर 8.2 प्रतिशत है। योजना में आयकर अधिनियम 1961 की धारा 80 सी के अंतर्गत एक वर्ष में अधिक तक डेढ़ लाख रुपए की छूट का भी प्रावधान है। केंद्र सरकार द्वारा 2015 में यह योजना प्रारंभ की गई है।


वन मंत्री श्री चौहान ने मध्य प्रदेश भवन स्थित विंध्य हर्बल्स और मृगनयनी कियोस्क का किया अवलोकन

18 Feb 2024
भोपाल ।वन, पर्यावरण एवं अनुसूचित कल्याण मंत्री श्री नागर सिंह चौहान ने दिल्ली प्रवास पर मध्य प्रदेश भवन स्थित म.प्र. राज्य लघु वनोपज संघ लिमिटेड के विंध्य हर्बल्स कियोस्क और संत रविदास म.प्र. हस्तशिल्प और हथकरघा विकास निगम लिमिटेड के मृगनयनी कियोस्क का अवलोकन किया।
मंत्री श्री चौहान ने कहा कि विंध्य हर्बल्स द्वारा लगाया गया आयुर्वेदिक औषधियों का स्टाल अत्यंत सराहनीय है, जिसका दिल्ली के लोगों को लाभ मिल रहा है। मंत्री श्री चौहान ने मृगनयनी के स्टाल की भी प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि प्रदेश के कपड़े की ख्याति पूरे देश में फैल रही है। उन्होंने कहा कि दिल्ली जैसे शहर में प्रदेश के उत्पादों की बिक्री की अपार संभावना है और आशा व्यक्त की कि स्टॉल में भविष्य में बिक्री और बढ़ेगी।
मंत्री श्री चौहान के भ्रमण के दौरान अपर आवासीय आयुक्त श्री प्रकाश उन्हाले और एपीसीसीएफ श्रीमती बिंदु शर्मा भी उपस्थित थे।


प्रदेश में 9.61 लाख जरूरतमंद परिवारों को मंजूर हुए आवास

17 Feb 2024
प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) में मध्यप्रदेश का लगातार बेहतर प्रदर्शन
भोपाल ।नगरीय विकास एवं आवास विभाग द्वारा प्रदेश के शहरी क्षेत्रों में जरूरतमंद परिवारों को उनका 'खुद का घर' देने के लिये लगातार ठोस प्रयास किये जा रहे हैं। प्रदेश में अब तक 9 लाख 61 हजार जरूरतमंदों को आवास मंजूर किये जा चुके हैं। इसके लिये करीब 24 हजार 24 करोड़ रूपये के साथ-साथ बी.एल.सी. घटक के अंतर्गत 16 हजार 242 करोड़ रूपये भी मंजूर किये गये हैं। प्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना में मंजूर आवासों में से अब तक 7 लाख 32 हजार हितग्राहियों के मकान निर्मित कर दिये गये हैं।

एमपी को बेस्ट परफॉर्मिंग स्टेट अवार्ड

प्रधानमंत्री आवास योजना के लगातार बेहतर क्रियान्वयन के लिये मध्यप्रदेश को बेस्ट परफार्मिंग स्टेट अवार्ड की श्रेणी में दूसरा पुरस्कार मिला है। अन्य योजनाओं से अभिसरण, आईईसी (प्रचार-प्रसार) गतिविधियों का संचालन एवं राज्य स्तरीय तकनीकी प्रकोष्ठ के प्रदर्शन में भी सर्वश्रेष्ठ राज्य का पुरस्कार केंद्रीय शहरी कार्य मंत्रालय द्वारा दिया गया है। योजना के प्रभावी क्रियान्वयन के लिये मध्यप्रदेश को सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्य का पुरस्कार (पीएमएवाई (यू), एम्पावरिंग इंडिया अवार्ड) भी मिला है। केंद्रीय शहरी कार्य मंत्रालय की ‘खुशियों का आशियाना’ प्रतिस्पर्धा में मध्यप्रदेश को 4 पुरस्कार मिले हैं।

भूमिहीन परिवारों को निः शुल्क आवासीय पट्टा

योजना की सफलता के लिये राज्य सरकार द्वारा किये गए कई नवाचारों तथा प्रभावी रणनीतियों का विशेष योगदान रहा है। शहरी क्षेत्र में भूमिहीन परिवारों को आवासीय भूमि का पट्टा उपलब्ध कराया जा रहा है, जिससे वे योजना के बी.एल.सी. घटक के लाभ से वंचित न रहें। यह छोटे और मझोले शहरों में योजना का सबसे लोकप्रिय घटक है, जिसमें हितग्राही अपने घर का निर्माण खुद ही करता हैं।

त्रिपक्षीय अनुबंध एवं अतिरिक्त हितलाभ

योजना के अफोर्डेबल हाउसिंग इन पार्टनरशिप (AHP) घटक में हितग्राहियों को बैंकों से ऋण लेने की कठिनाई को दूर करने के लिये विभाग द्वारा त्रिपक्षीय अनुबंध के जरिये नगरीय निकायों की जिम्मेदारी पर हितग्राहियों को सुगमतापूर्वक ऋण दिलाया है। साथ ही शहरी क्षेत्र के पंजीकृत गरीब निर्माण श्रमिक, जो हितग्राही-अंश की पूर्ति करने में सक्षम नहीं है, उनके लिये प्रधानमंत्री आवास योजना में तय राशि के अलावा एक लाख रूपये तक का अतिरिक्त अनुदान मुख्यमंत्री भवन एवं सन्निर्माण कर्मकार आवास योजना से दिया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि ए.एच.पी. घटक में राज्य व केंद्रीय अनुदान से गुणवत्तापूर्ण किफ़ायती आवास निर्माण कर शहरी आवासहीन परिवारों को उपलब्ध कराया जाता है। योजना की गति बढ़ाने और हितग्राहियों को प्रोत्साहित करने के लिये समय-समय पर राशि वितरण, गृह प्रवेश, भूमिपूजन के साथ हितग्राही संवाद कार्यक्रम भी प्रदेश में लगातार किये जा रहे हैं।

विभागीय मंत्री के निर्देश

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री कैलाश विजयवर्गीय ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के बेहतर क्रियान्वयन के लिये विभागीय अधिकारियों को सतत् समीक्षा करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने उम्मीद जताई है कि केन्द्र सरकार, राज्य सरकार एवं नगरीय निकायों के सहयोग से प्रदेश के सभी आवासहीन परिवारों के 'खुद का घर' के सपने को साकार किया जायेगा।


पशुपालन एवं डेयरी राज्यमंत्री श्री लखन पटेल ने केंद्रीय राज्यमंत्री श्री मुरूगन से मुलाकात की

17 Feb 2024
भोपाल ।पशुपालन एवं डेयरी राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री लखन पटेल ने शनिवार को नई दिल्ली में केंद्रीय पशुपालन, मत्स्य पालन और डेयरी राज्यमंत्री श्री एल. मुरूगन से उनके निवास पहुंचकर मुलाकात की। राज्यमंत्रीद्वय ने विभागीय योजनाओं और उनके क्रियान्वयन पर विस्तार से चर्चा की।
राज्यमंत्री श्री पटेल ने केंद्रीय राज्यमंत्री श्री मुरूगन को बताया कि मध्यप्रदेश में केंद्र सरकार की सभी योजनाओं का विशेष प्राथमिकता के साथ सफल क्रियान्वयन किया जा रहा है। केन्द्रीय राज्यमंत्री श्री मुरूगन ने आश्वस्त किया कि प्रदेश को विभाग की सभी शासकीय योजनाओं एवं कार्यक्रमों के क्रियान्वयन में केंद्र सरकार का पूरा सहयोग मिलेगा।


मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा है कि मां नर्मदा में नालों से मिलने वाले प्रदूषित पानी रोकने के लिए हमारी सरकार संकल्पबद्ध है

17 Feb 2024
भोपाल ।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा है कि मां नर्मदा में नालों से मिलने वाले प्रदूषित पानी रोकने के लिए हमारी सरकार संकल्पबद्ध है। उन्होंने नर्मदा में नालों के मिलने वाले प्रदूषित पानी को रोकने के निर्माण कार्यों के लिए 15 करोड़ की राशि देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव कल नर्मदापुरम जिले में सेठानी घाट पर आयोजित ’मां नर्मदा जयंती महोत्सव’ और नर्मदापुरम गौरव दिवस में शामिल हुए। यहां उन्होंने कहा कि नर्मदापुरम को पवित्र नगरी बनाया जाएगा। इसके लिए खुले में मांस की बिक्री पर रोक लगाई जाएगी और नगर से डेढ़ किलोमीटर दूर शराब की दुकाने रहेंगी। मुख्यमंत्री ने नर्मदापुरम में आयुष महाविद्यालय खोलने की घोषणा की। डॉ. यादव ने जिले के 191 करोड़ से अधिक के विकास कार्यों का लोकार्पण एवं भूमि पूजन किया।


किसानों को ओलावृष्टि से प्रभावित फसलों का मुआवजा मिलेगा : राज्यमंत्री श्री अहिरवार

17 Feb 2024
भोपाल ।वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री श्री दिलीप अहिरवार छतरपुर जिले के चांदला विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न ग्रामों में पहुँचे, जहाँ ओलावृष्टि से किसानों की फसल खराब हुई है। राज्यमंत्री ने स्वयं खेतों में जाकर खराब हुई फसलों का मुआयना किया। उन्होंने कहा कि किसानों को चिंता करने की जरूरत नही है। प्रदेश सरकार उनकी चिंता करेगी।
राज्यमंत्री श्री दिलीप सिंह अहिरवार ने कहा कि ओलावृष्टि से खराब हुई फसलों का सर्वे कराकर उचित मुआवजा दिलाया जाएगा।


मध्यप्रदेश के अस्पतालों में शीघ्र ही डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ की कमी दूर की जाएगी: उपमुख्यमंत्री

16 Feb 2024
भोपाल ।उपमुख्यमंत्री राजेंद्र शुक्ल ने कल बैतूल में कहा कि मध्यप्रदेश के अस्पतालों में शीघ्र ही डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ की कमी दूर की जाएगी। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि 1 हजार डॉक्टरों की भर्ती के लिए एमपीपीएससी को निर्देशित किया गया है। इसके पहले लोकसभा चुनाव प्रबंधन समिति की बैठक में शामिल होते हुए शुक्ल ने कहा कि आने वाला लोकसभा चुनाव विकसित भारत के संकल्प का चुनाव है। इस संकल्प को पूर्ण करने के लिए सभी कार्यकर्ता अभी से अपने कार्य में जुट जाएं।


राज्यपाल श्री पटेल की उपस्थिति में हुआ स्वास्थ्य शिविर

16 Feb 2024
सिकलसेल एवं टीबी उन्मूलन के लिए सभी मिलकर प्रयास करें -राज्यपाल श्री पटेल
भोपाल ।सिकलसेल एनीमिया की बीमारी अनुवांशिक होती है और यह आदिवासी समाज में बहुतायत में पायी जाती है। इसी प्रकार आदिवासी समाज में टीबी के मरीज भी अधिक संख्या में पाये जाते हैं। इन बीमारियों के प्रति जागरूकता फैलाकर इनका उन्मूलन करने की आवश्कता है। इसके लिए समाज के सभी वर्गों को मिलकर प्रयास करना होगा। यह बातें राज्यापाल श्री मंगुभाई पटेल ने खरगोन में सुशीला देवी उमराव सिंह पटेल सेवा संस्थान द्वारा आयोजित स्वास्थ्य परीक्षण एवं रक्तदान शिविर में कही।
राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि मैं वहां अवश्य जाता हूँ। जहां दीन दुखियों की सेवा की जाती है। क्षेत्रीय सांसद श्री गजेन्द्र सिंह पटेल द्वारा अपनी माता के द्वारा प्रारंभ किये गए संस्थान के माध्यम से स्वास्थ्य शिविर का आयोजन जनसेवा का अच्छा काम किया जा रहा है। इस शिविर में युवाओं द्वारा रक्तदान किया जा रहा है। रक्तदान, महादान है जो दूसरे की जान बचाने के काम आता है। युवा अधिक से अधिक संख्या में रक्तदान करने के लिए आगे आएं।
राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि देश में 2025 तक टीबी रोग के उन्मूलन का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए निष्क्षय मित्र बनकर सहयोग किया जा सकता है। घर में टीबी का मरीज होने पर उसके अलग रहने की व्यवस्था की जाए और 06 माह तक नियमित रूप से दवा का सेवन करने पर टीबी का मरीज ठीक हो जाता है।
सिकलसेल एनीमिया बीमारी की चर्चा करते हुए राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि यह एक अनुवांशिक बीमारी है और आदिवासी समाज में बहुतायात में पायी जाती है। इस बीमारी से बचने के लिए समय पर इसकी पहचान जरूरी होती है। उन्होंने कहा कि युवा शादी करने के पहले देख लें कि दोनों सिकलसेल से पीड़ित तो नहीं है। यदि लड़का और लड़की दोनों को सिकलसेल की बीमारी है तो उन्हें आपस में शादी नहीं करना चाहिए। ऐसे जोड़े के विवाह करने से पैदा होने वाले बच्चें भी सिकलसेल से ग्रसित होते हैं। सरकार ने वर्ष 2047 तक सिकलसेल निर्मूलन का लक्ष्य रखा है। राज्यपाल ने श्रीअन्य सिकलसेल के मरीजों से कहा कि ज्यादा तैलीय पदार्थ न खाएं और बाहर को भोजन न खाएं, बल्कि घर पर ही मोटे अनाज को अपने भोजन में शामिल करें। भारत सरकार ने “मिलेट” (मोटा अनाज) के लिए 15 हजार करोड़ रुपए के बजट का प्रावधान किया है।

दिव्यांग प्रमाण-पत्र वितरित

कार्यक्रम में राज्यपाल श्री पटेल द्वारा सिकलसेल के मरीजों को दिव्यांग प्रमाण पत्र एवं टीबी मरीजों को पोषण आहार का वितरण किया गया। उन्होंने रक्तदान करने वाले युवाओं को प्रमाण पत्र का वितरण किया और रक्तदान करने के लिए उनका हौसला बढ़ाया।

खरगोन कैलेण्डर का अनावरण

राज्यपाल श्री पटेल ने जिला पुरातत्व, पर्यटन एवं संस्कृति परिषद द्वारा तैयार किये गए खरगोन जिले के कैलेण्डर का विमोचन किया। इसमें खरगोन जिले के ऐतिहासिक एवं पर्यटक स्थलों को दर्शाया गया है।

धनुष बाण भेंट किया गया

स्थानीय सांसद श्री पटेल द्वारा राज्यपाल श्री पटेल को पारंपरिक जैकेट पहनाकर पारम्परिक धनुष बाण स्मृति चिन्ह के रूप में भेंट किया गया। कार्यक्रम में अरविंदो हॉस्पीटल इंदौर के चैयरमेन डॉ. विनोद भंडारी ने बताया कि इस शिविर में उनके संस्था के चिकित्सकों द्वारा सिकलसेल, थायराईड, एनीमिया के साथ ही केंसर जांच की भी व्यवस्था की गई है। उनकी संस्था द्वारा बच्चों में सिकलसेल एनीमिया की पहचान के लिए कोमल स्पर्श नाम से एक अभियान भी प्रारंभ किया गया है। उनके संस्थान द्वारा घर-घर जाकर कैंसर जांच का अभियान भी चलाया जा रहा है। खरगोन-बड़वानी सांसद श्री गजेन्द्र सिंह पटेल, रतलाम-झाबुआ सांसद श्री गुमानसिंह डामोर, धार-महु सांसद श्री छतरसिंह दरबार, खण्डवा सांसद श्री ज्ञानेश्वर पाटिल, बेतुल-हरदा सांसद श्री दुर्गादास उईके, खरगोन विधायक श्री बालकृष्ण पाटीदार, बड़वाह विधायक श्री सचिन बिरला, पानसेमल विधायक श्री श्याम जी बर्डे, पंधाना विधायक श्रीमती छाया मोरे, कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा, एसपी श्री धर्मवीर सिंह अन्य जनप्रतिनिधिगण एवं अधिकारीगण उपस्थित थे।


भोपाल रेलवे स्टेशन प्लेटफार्म नं.-एक क्षेत्र विश्वस्तरीय फेशिया के रूप में होगा विकसित

15 Feb 2024
मंत्री श्री सारंग ने भोपाल स्टेशन के प्लेटफार्म नम्बर-एक क्षेत्र का किया निरीक्षण
रेलवे, पीडब्ल्यूडी और नगर निगम मिलकर तैयार करेंगे प्लान

भोपाल ।खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग ने कहा कि भोपाल स्टेशन के प्लेटफार्म क्रमांक-1 क्षेत्र को शहर के विश्वस्तरीय फेशिया के रूप में विकसित किया जायेगा। उन्होंने इसको लेकर नरेला विधानसभा अंतर्गत भोपाल स्टेशन क्षेत्र का निरीक्षण किया। निरीक्षण के बाद भोपाल डीआरएम के साथ स्टेशन के आसपास के क्षेत्र में विकास कार्य के प्लान की जानकारी प्राप्त की।
मंत्री श्री सारंग ने कहा कि रेलवे, लोक निर्माण विभाग एवं नगर निगम भोपाल क्षेत्र के सौंदर्यीकरण एवं विकास कार्यों को लेकर संयुक्त रूप से प्लान बनाये, जिससे उनमें एकरूपता रहे। मंत्री श्री सारंग ने आगामी समय में प्लेटफॉर्म क्रमांक-1 के समक्ष सड़क का चौड़ीकरण कर 8 लेन के रुप में विकसित करने के प्लान पर कार्य करने की बात कही। इस अवसर पर भोपाल डीआरएम श्री देवाशीष त्रिपाठी, लोक निर्माण एवं नगर निगम के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

पर्यटकों में स्टेशन के आसपास के विकास से बनती शहर की छवि

मंत्री श्री सारंग ने बताया कि भोपाल स्टेशन के प्लेटफार्म क्रमांक-1 क्षेत्र को विश्व स्तरीय स्वरूप में डेवलप किया जायेगा। उन्होंने कहा कि स्टेशन का प्रांगण शहर का फेशिया होता है, स्टेशन प्रांगण के बाहर उपलब्ध सुविधाओं एवं विकास कार्यों से ही शहर में बाहर से आने वाले पर्यटकों के मन में शहर की छवि बनती है। इसके लिये अब स्टेशन के आसपास के क्षेत्र में सौंदर्यीकरण सहित अन्य विकास कार्य रेलवे, पीडब्ल्यूडी और नगर निगम मिलकर करेंगे, जिससे कार्य में एकरूपता रहेगी।

पर्यटन को बढ़ावा देने बनाये मैप रूट

मंत्री श्री सारंग ने भोपाल के आसपास के क्षेत्रों में स्थित प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों के प्रचार-प्रसार के लिये मैप रूट बनाने के भी निर्देश दिये। स्टेशन पर स्थित ऑटो स्टैंड पर मौजूद रिक्शा चालकों को सॉफ्ट स्किल ट्रेनिंग प्रदान करने के भी निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि इससे स्टेशन पर आने वाले यात्रियों की यात्रा और सुलभ होगी।


कुटीर एवं ग्रामोद्योग राज्यमंत्री श्री जायसवाल ने किया मृगनयनी एम्पोरियम का निरीक्षण

15 Feb 2024
भोपाल हाट, मेले और प्रमुख स्थानों पर भी स्टॉल्स लगेंगे
भोपाल ।कुटीर एवं ग्रामोद्योग राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) तथा मध्यप्रदेश संत रविदास हस्तशिल्प एवं हाथकरघा विकास निगम एवं मध्यप्रदेश खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष श्री दिलीप जायसवाल ने गुरूवार को भोपाल के जवाहर चौक एवं जीटीबी परिसर स्थित मृगनयनी एम्पोरियम का निरीक्षण किया।
मध्यप्रदेश खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के एम्पोरियम में खादी एवं हाथकरघा के जरिये निर्मित उत्पादों का विक्रय किया जाता है। एम्पोरियम में रेशम की साड़ी, चंदेरी साड़ी, मेंहदीवाडा की कोसा साड़ी, खादी परिधान, चादरें, कांसे, काष्ठ एवं बांस के खिलौने भी उचित मूल्य पर विक्रय के लिये उपलब्ध हैं।
राज्यमंत्री श्री जायसवाल ने उत्पादों का व्यापक प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि भोपाल हाट, मेलों एवं अन्य प्रमुख स्थानों में भी एम्पोरियम के स्टॉल्स लगायें। साथ ही खादी, हस्तशिल्प एवं हाथकरघा उत्पादों की विशेष ब्रांडिंग करने के निर्देश दिए। उन्होंने राज्य के बाहर भी खादी, हस्तशिल्प एवं हाथकरघा उत्पादों की व्यापक स्तर पर मार्केटिंग एवं विक्रय की संभावनाएं तलाशने के निर्देश दिए। राज्यमंत्री श्री जायसवाल ने कहा कि उत्पादों की जानकारी आम लोगों तक पहुँचाने के नये तौर तरीके अपनाये जायें।
निरीक्षण के दौरान मप्र संत रविदास हस्तशिल्प एवं हाथकरघा विकास निगम के प्रबंध संचालक, मप्र खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के प्रबंध संचालक तथा आयुक्त, हस्तशिल्प एवं हाथकरघा श्री मोहित बुंदस सहित विभागीय अधिकारी भी उपस्थित थे।


सीएम राईज स्कूल में शैक्षणिक गुणवत्ता सुधार के लगातार प्रयास हो

13 Feb 2024
स्कूल शिक्षा मंत्री श्री सिंह ने मंत्रालय में हुई बैठक में की समीक्षा
भोपाल ।स्कूल शिक्षा मंत्री श्री उदय प्रताप सिंह ने कहा है कि सीएम राईज स्कूल प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है। इन स्कूलों में शैक्षणिक गुणवत्ता में लगातार सुधार के प्रयास किये जाते रहना चाहिए। उन्होंने योजना में तय समय-सीमा में स्कूल संचालन की व्यवस्था सुनिश्चित किये जाने के निर्देश विभागीय अधिकारियों को दिये। बैठक में प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरूण शमी और आयुक्त स्कूल शिक्षा श्रीमती अनुभा श्रीवास्तव भी मौजूद थीं।

सीएम राईज स्कूल भवन निर्माण

बैठक में बताया गया की प्रदेश में 275 सीएम राईज स्कूल भवनों का निर्माण 9 हजार 641 करोड़ रूपये की लागत से किया जा रहा है। सीएम राईज स्कूल भवन निर्माण में 6 एजेंसी जुड़ी हुई है। लोक निर्माण विभाग का पीआईयू 129 भवनों का निर्माण करीब 4 हजार 409 करोड़ रूपये की लागत से कर रहा है। मंत्री श्री सिंह ने स्कूल शिक्षा विभाग की टेक्नीकल बिंग से भवन निर्माण की लगातार निगरानी किये जाने के भी निर्देश दिये।

शिक्षकों और विद्यार्थियों के व्यक्तित्व विकास पर जोर

बैठक में बताया गया कि सीएम राईज स्कूल की कार्ययोजना के क्रियान्वयन में 3 कंसल्टेंट एजेंसियाँ भी मदद कर रही है। यह एजेंसियाँ शिक्षकों के नेतृत्व विकास, पढ़ाने की नवीन विधा और विद्यार्थियों के व्यक्तित्व विकास में मदद कर रही है। बैठक में शैक्षणिक सत्र 2022-23 में परीक्षा परिणाम पर भी चर्चा की गई। बैठक में बताया गया कि इन स्कूलों में विद्यार्थियों का परीक्षा परिणाम अन्य विद्यालयों की तुलना में बेहतर आया है। कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षा की मेरिट सूची में सीएम राईज स्कूल के 5 विद्यार्थियों ने स्थान पाया है। सीएम राइज स्कूल योजना को प्रतिष्ठित स्कॉच अवॉर्ड प्राप्त हुआ है। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अनुरूप लगभग 7 हजार शिक्षकों को आकदमिक प्रशिक्षण दिलाया गया। इसके साथ ही सृजन कार्यक्रम में 60 हजार से अधिक अभिभावकों की सहभागिता सुनिश्चित की गई।

शैक्षणिक कैलेण्डर का विमोचन

स्कूल शिक्ष मंत्री श्री सिंह ने आज मंत्रालय में स्कूल शिक्षा विभाग और सीएम राइज स्कूल की गतिविधियों पर केन्द्रित कैलेण्डर का विमोचन किया। कैलेण्डर के माध्यम से सुपर 100 योजना, डिजिटल साक्षरता, पीएमश्री स्कूल, सीएम राइज स्कूल, स्कूल बैण्ड, उमंग और अनुगूंज कार्यक्रमों के बारे में जानकारी दी गई है।


मुख्य सचिव की अध्यक्षता में संचालन समिति गठित
13 Feb 2024
भोपाल।राज्य शासन ने संसद द्वारा पारित तीन नये विधेयक (भारतीय न्याय संहिता 2023, भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता 2023 तथा भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 2023) के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए संचालन समिति का गठन मुख्य सचिव की अध्यक्षता में किया हैं।
समिति में प्रमुख सचिव गृह, प्रमुख सचिव विधि एवं विधायी कार्य, प्रमुख सचिव जेल एवं सुधारात्मक सेवाएं, पुलिस महानिदेशक, पुलिस मुख्यालय, संचालक लोक अभियोजन, संचालक मेडिकोलीगल संस्थान सदस्य होंगे।


विद्युत मण्डल पेंशनर्स की समस्याओं पर लेंगे सकारात्मक निर्णय : ऊर्जा मंत्री
13 Feb 2024
भोपाल।ऊर्जा मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि विद्युत मण्डल पेंशनर्स की समस्याओं पर विचार कर सकारात्मक निर्णय लिया जायेगा। उन्होंने मध्यप्रदेश विद्युत मण्डल पेंशनर एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ बैठक में यह बात कही।
श्री तोमर ने कहा कि आपके द्वारा दिये गये ज्ञापन के एक-एक बिन्दु पर चर्चा कर यथोचित निर्णय लिया जायेगा। पेंशनर एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने कहा कि महंगाई राहत के लिये छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश की सहमति की अनिवार्यता को खत्म किया जाये। तीस जून को सेवानिवृत्त कर्मचारियों को एक अतिरिक्त वेतन वृद्धि दी जाये। एक तारीख को पेंशन मिलना सुनिश्चित किया जाये। हर 3 महीने में विद्युत वितरण कम्पनियों के एमडी के साथ पेंशनर की बैठक आयोजित की जाये। स्वास्थ समूह बीमा योजना लागू की जाये। बैठक में सचिव ऊर्जा श्री रघुराज राजेन्द्रन एवं पेंशन एसोसिएशन के पदाधिकारी उपस्थित थे।


उप मुख्यमंत्री श्री देवड़ा ने प्रस्तुत किया वर्ष 2024-25 का लेखानुदान

12 Feb 2024
लेखानुदान की राशि मुख्य बजट में होगी शामिल
भोपाल ।उप मुख्यमंत्री श्री जगदीश देवड़ा ने आज वित्तीय वर्ष 2024-25 का लेखानुदान विधानसभा में प्रस्तुत किया। संविधान के अनुच्छेद 206 (1) के अंतर्गत निरंतर व्यय के मदों के लिये नवीन सेवायें अथवा व्यय के नये मद/शीर्ष सम्मिलित नहीं हैं। लेखानुदान का उद्देश्य अंतिम आपूर्ति की स्वीकृति होने तक सरकार के क्रियान्वयन को जारी रखना है। करारोपण संबंधी नये प्रस्ताव तथा व्यय के नवीन मद सम्मिलित नहीं हैं। द्वितीय अनुपूरक अनुमान में सम्मिलित नवीन योजनाओं के लिये प्रावधान है। लेखानुदान की अवधि समाप्त होने के पूर्व अनुदान की पुनरीक्षित मांगें सदन के समक्ष प्रस्तुत की जायेंगी। लेखानुदान द्वारा प्राप्त राशि मुख्य बजट में समाहित की जायेंगी। लेखानुदान 4 माह (एक अप्रैल से 31 जुलाई, 2024) के लिये है। वित्तीय वर्ष हेतु बजट में सम्मिलित राशि 3,48,986.57 करोड़ है। लेखानुदान के लिये राशि रुपये 1,45,229.55 करोड़ है। लेखानुदान राशि में मतदेय राशि रुपये 1,19,453.05 करोड़ तथा भारित राशि रुपये 25,776.51 करोड़ है।

बजट अनुमान 2024-25 का वार्षिक वित्तीय विवरण

वर्ष 2024-25 के बजट अनुमान में कुल राजस्व प्राप्तियाँ राशि रुपये 2,52,268.03 करोड़ है। इसमें राज्य कर से राजस्व प्राप्तियाँ रुपये 96,553.30 करोड़ है। गैर कर राजस्व प्राप्तियाँ रुपये 18,077.33 करोड़ है। बजट अनुमान में राजस्व व्यय रुपये 2,51,825.13 करोड़ है। वर्ष 2023-24 में पुनरीक्षित अनुमान में राजस्व व्यय रुपये 2,31,112.34 करोड़ है। वर्ष 2024-25 में बजट अनुमान में राजस्व आधिक्य रुपये 442.90 करोड़ है। कुल पूँजीगत प्राप्तियाँ का बजट अनुमान रुपये 59,718.64 करोड़ है एवं वर्ष 2024-25 में कुल पूँजीगत परिव्यय का बजट अनुमान 59,342.48 करोड़ है।


प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने एक लाख से अधिक युवाओं को नियुक्तियां दीं कहा भर्ती प्रक्रिया तय समय में पूरी करने पर जोर

12 Feb 2024
इंदौर ।प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने आज एक लाख से अधिक युवाओं के लिए भोपाल के चिरायु मेडिकल कालेज एवं हॉस्पिटल के आडिटोरियम सहित देश भर में 47 स्थानों पर आयोजित रोजगार मेले में वर्चुअल माध्यम से नियुक्ति पत्र जारी किये। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने इससे पहले रिमोट बटन से कर्मयोगी भवन की आधारशिला रखी। युवाओं को सम्बोधित करते हुए श्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमने भर्ती की प्रक्रिया को पूरी तरह पारदर्शी बना दिया है।
उन्होंने कहा कि सरकार का जोर है कि भर्ती प्रक्रिया तय समय के भीतर पूरी कर ली जाय । श्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि युवाओं के लिए रोजगार के नए सेक्टर खुल रहे हैं । उन्होंने कहा कि रूफ टॉप सोलर योजना से देश में रोजगार के लाखों अवसर बनेंगे । एक योजना अनेकों स्तर पर रोजगार के मौके बनाएगी । श्री मोदी ने कहा कि भारतीय रेल ट्रांसफार्मेशन के दौर से गुजर रही है। पहले की सरकारें रेलवे की परेशानियों के प्रति उपेक्षा का भाव रखती थीं । उन्होंने कहा कि भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप इकोसिस्टम है स्टार्टअप की संख्या सवा लाख के आसपास पहुंच रही है। इन स्टार्टअप में युवाओं के लिए लाखों रोजगार बन रहे हैं । श्री मोदी ने कहा कि सरकारी कर्मचारियों की दक्षता बढ़ाने के लिये कर्मयोगी भारत पोर्टल बनाया गया है । उन्होंने कहा कि कि इस पोर्टल पर विभिन्न विषयों से जुड़े 800 से ज्यादा कोर्सेस उपलब्ध हैं । उन्होंने नियुक्ति पाने वालों से अपील की कि वे इसका अधिक से अधिक लाभ उठाएं उन्होंने नियुक्ति पत्र पाने वालों के उज्जवल भविष्य की कामना भी की
भोपाल के चिरायु मेडिकल कालेज एवं हॉस्पिटल के आडिटोरियम में आयोजित किये जाने वाले 12वें रोजगार मेला कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में श्री बी एल वर्मा , केन्द्रीय राज्य मंत्री, पूर्वोत्तर क्षेत्र का विकास मंत्रालय एवं सहकारिता मंत्रालय ने प्रत्यक्ष रूप से 25 युवाओं को प्रतीक रूप से नियुक्ति पत्र सौपें। कार्यक्रम में 250 युवाओं को नियुक्ति पत्र दिए गए। अपने सम्बोधन में श्री बी एल वर्मा ने कहा कि यहां विभिन्न विभागों में रोजगार के लिए नियुक्ति पत्र दिए गए हैं । उन्होंने कहा कि सहकारिता में 15000 बेटियों को ड्रोन प्रशिक्षण दिया जाएगा जिससे वे खेतों के काम में रोजगार कर सकेंगी उन्होंने कहा कि 2004 के बाद पिछली सरकार की तुलना में बैकलाग की भर्ती में एससी, एसटी और ओबीसी के वर्गों की नियुक्ति 150 प्रतिशत अधिक हुई है। उन्होंने कहा की यूपीए सरकार की तुलना में रोजगार में हिस्सेदारी 7 या 8 प्रतिशत थी जो बढ़कर दोगुनी औसतन 18 प्रतिशत हो गयी है । श्री बी एल वर्मा ने कहा कि मेले में एकलव्य विद्यालयों में 10,000 नियुक्तियां की गयी है। कार्यक्रम से पहले युवा शक्ति के प्रदर्शन के उल्लेख के साथ एक लघु फिल्म का प्रदर्शन किया गया। कार्यक्रम में सीमा सुरक्षा बल के वरिष्ठ अधिकारी और कर्मचारियों के अलावा अन्य विभागों के कार्मिक शामिल हुए।


विज्ञान-तकनीक और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में महिलाएं आगे बढ़ें, शासन व समाज उनके साथ है - मुख्यमंत्री डॉ. यादव

12 Feb 2024
भारतीय संस्कृति में मातृ शक्ति सदैव सम्मानित रही है
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, ब्लॉक चेन टेक्नोलॉजी, वर्चुअल रियालिटी, इंडस्ट्रियल सेफ्टी, सहित कई तकनीकी पाठ्यक्रमों और प्रशिक्षण सत्रों का किया शुभारंभ
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने सीखो कमाओ योजना के 8 हजार प्रशिक्षणार्थियों को 6 करोड़ 60 लाख रूपए स्टाइपेंड सिंगल क्लिक से वितरित किए
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने महिलाओं की विज्ञान में सहभागिता के अंतर्राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम को किया संबोधित

भोपाल ।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि आज का दिवस विज्ञान में महिलाओं की सहभागिता को प्रोत्साहित करने और इसे रेखांकित करने को समर्पित है। इस उद्देश्य से यह दिन बहुत महत्वपूर्ण है और इस कार्यक्रम में सम्मिलित होकर मैं स्वयं गौरवान्वित अनुभव कर रहा हूँ। विश्व के सभी देशों की दृष्टि से यह दिन महत्वपूर्ण तो है ही परंतु भारत के संदर्भ में इस अंतर्राष्ट्रीय दिवस की महत्ता और अधिक बढ़ जाती है, क्योंकि हमारी संस्कति में सदैव मातृ शक्ति को सम्मान दिया गया है। हमारे यहाँ ज्ञान की देवी सरस्वती और धन की देवी लक्ष्मी हैं तथा हम देश को भी भारत माता के स्वरूप में स्वीकार करते हैं। मुख्यमंत्री डॉ. यादव महिलाओं की विज्ञान में सहभागिता के अंतर्राष्ट्रीय दिवस पर कुशाभाऊ ठाकरे अंतर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

देश में महिलाओं के लिए सभी पदों व संभावनाओं के लिए द्वार खुले हैं

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि हमारे देश की प्रथम नागरिक महिला ही हैं। राष्ट्रपति श्रीमती द्रोपदी मुर्मु देश के सर्वोच्च पद पर विराजमान हैं। यह लोकतंत्र की सुंदरता है, और इस व्यवस्था से यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के प्रति हम सबके मन में सम्मान बढ़ा है। यह इस बात का भी संकेत है कि हमारे देश में महिलाओं के लिए सभी पदों व संभावनाओं के लिए द्वार खुले हैं, वे आगे बढ़ने के लिए अपनी ओर से हरसंभव प्रयास करें, शासन और समाज उनके साथ है।

प्रधानमंत्री श्री मोदी विज्ञान के माध्यम से सभी के जीवन में सकारात्मक बदलाव के लिए प्रयासरत हैं

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि आज 12 जनजातीय जिलों, आईटीआई, पॉलिटेक्निक, इंजीनियरिंग कॉलेजों की बहनों को सम्मानित किया गया है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी भी विज्ञान के क्षेत्र में विशेष ध्यान देते हुए गरीब से गरीब व्यक्ति के जीवन में सकारात्मक बदलाव के लिए प्रयासरत हैं। माताओं-बहनों की स्थिति में भी लगातार सुधार हो रहा है। बहन-बेटियों के विज्ञान, तकनीक और इंजीनियरिंग की दिशा में आगे बढ़ने से देश-प्रदेश की दशा और दिशा बदलेगी। हमारे सभी आईटीआई, पॉलिटेक्निक, इंजीनियरिंग कॉलेज में समय की माँग और आवश्यकतानुसार विश्व स्तरीय प्रशिक्षण उपलब्ध कराने के लिए हरसंभव प्रयास किए जाएंगे। उल्लेखनीय है कि 11 फरवरी को महिलाओं की विज्ञान में सहभागिता का अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाया जाता है। जिसे यूनेस्को और द्वारा नागरिक समाज की साझोदारी के साथ समन्वित रूप से क्रियान्वित किया जाता है।

भोपाल के एसव्ही पॉलिटेक्निक और महिला पॉलिटेक्निक में स्टूडेंट एडवांसमेंट कोर्स आरंभ

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने प्रदेश की विभिन्न संस्थाओं में सिंगल क्लिक से विभिन्न पाठ्यक्रमों व प्रशिक्षण सत्रों का डिजिटली शुभारंभ किया। इंडो जर्मन इनिशियेटिव फॉर टेक्निकल एजुकेशन (IGnITE) अंतर्गत प्रदेश की सभी शासकीय आईटीआई में इंडस्ट्रियल सेफ्टी ट्रेनिंग का शुभारंभ किया गया। आईआईटी दिल्ली के सहयोग से ऑनलाईन मोड में ट्रेनिंग के लिए जबलपुर इंजीनियरिंग कॉलेज में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस एवं इंटरनेट ऑफ थिंग के कोर्स और ब्लॉकचेन बिल्डर टेक्नोलॉजी कोर्स का उज्जैन इंजीनियरिंग कॉलेज में शुभारंभ किया। इसी प्रकार एसव्ही पॉलिटेक्निक भोपाल में वर्चुअल रियालिटी और ऑगमेटेड रियालिटी कोर्स का भी शुभारंभ किया गया। आईआईटी इंदौर के सहयोग से महिला पॉलिटेक्निक कॉलेज भोपाल में प्रोक्योरमेंट एसेन्शियल फॉर स्टूडेंट एडवांसमेंट (PESA) कोर्स का शुभारंभ किया।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने तकनीकी क्षेत्र में निपुण महिलाओं को किया सम्मानित

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने सीखो कमाओ योजना में आठ हजार चयनित प्रशिक्षणार्थियों को 6 करोड़ 60 लाख रूपए स्टाइपेंड सिंगल क्लिक के माध्यम से वितरित किए। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने एसटीईएम (साइंस, टेक्नॉलॉजी, इंजीनियरिंग, मैथ्स) क्षेत्र में निपुण महिलाओं का सम्मान किया और रोजगार मेलों में चयनित महिला अभ्यर्थियों कुमारी महक शुक्रवारे, कुमारी रूबी सिंह यादव, कुमारी ऐश्वर्या तिवारी, कुमारी रागिनी रावत, कुमारी श्रद्धा कुशवाह, कुमारी आरती कुदापे आदि को ऑफर लेटर वितरित किए।

विज्ञान, तकनीकी, इंजीनियरिंग और गणित शिक्षा में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए हरसंभव प्रयास जारी

अपर मुख्य सचिव तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास श्री मनु श्रीवास्तव ने कहा कि बालिकाओं की शिक्षा मुख्यमंत्री डॉ. यादव की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में शामिल है। प्रदेश में विज्ञान, तकनीकी, इंजीनियरिंग और गणित की शिक्षा (स्टेम) में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। प्रदेश के इंजीनियरिंग कॉलेजों, आई.टी.आई., पॉलिटेक्निक और यूएन वूमेन के सहयोग से इस दिशा में विशेष प्रयाए हो रहे हैं।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव को महिला पॉलिटेक्निक भोपाल की छात्राओं ने राममंदिर के चित्र वाला हस्तनिर्मित अंगवस्त्रम भेंट किया

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव श्री मनु श्रीवास्तव ने विद्यार्थियों द्वारा निर्मित स्मृति चिन्ह मुख्यमंत्री डॉ. यादव को भेंट कर उनका स्वागत किया। मुख्यमंत्री डॉ. यादव को महिला पॉलेटिक्नक भोपाल की छात्राओं ने हस्तनिर्मित अंगवस्त्रम भेंट किया, जिसमें छात्राओं ने स्वयं राम मंदिर का चित्र बनाया है। मुख्यमंत्री डॉ. यादव को कौशल विकास विभाग द्वारा श्रीराम का विशाल चित्र भेंट कर उनका स्वागत अभिनंदन किया गया। कार्यक्रम में कौशल विकास एवं रोजगार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री गौतम टेटवाल, अध्यक्ष कौशल एवं रोजगार निर्माण बोर्ड श्री शैलेन्द्र शर्मा, कंट्री हेड यूएन वूमेन सुश्री सुजेन फरग्यूसन, सीनियर प्रोफेसर आईआईटी श्री देवाशीष मित्रा तथा विज्ञान और तकनीकी क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान देने वाली महिलाएं तथा इंजीनियरिंग व तकनीकी शैक्षणिक संस्थानों की छात्राएं बड़ी संख्या में उपस्थित थीं।


प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी इंदौर से झाबुआ के लिये हुये रवाना

11 Feb 2024
इंदौर एयरपोर्ट पर किया गया आत्मीय स्वागत
इंदौर ।प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी आज रविवार को इंदौर एयरपोर्ट आये। यहाँ से वे झाबुआ के लिये रवाना हुये। एयरपोर्ट पर उनकी अगवानी कर आत्मीय स्वागत किया गया। एयरपोर्ट पर उनकी अगवानी राज्य शासन की ओर से नगरीय प्रशासन मंत्री श्री कैलाश विजयवर्गीय ने की। इस अवसर पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, सांसद श्री शंकर लालवानी तथा सुश्री कविता पाटीदार, पूर्व लोकसभा अध्यक्ष श्रीमती सुमित्रा महाजन, महापौर श्री पुष्यमित्र भार्गव, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती रीना मालवीय,पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री सत्यनारायण जटिया, मुख्य सचिव श्रीमती वीरा राणा, पुलिस महानिदेशक श्री सुधीर सक्सेना,राज्य अनुसूचित जाति वित्त विकास निगम के अध्यक्ष श्री सावन सोनकर, युवा आयोग के अध्यक्ष श्री निशांत खरे, सफाई कामगार आयोग के अध्यक्ष श्री प्रताप करोसिया, विधायक सुश्री उषा ठाकुर, श्री रमेश मेंदोला, श्री गोलू शुक्ला, श्रीमती मालिनी लक्ष्मण सिंह गौड़, श्री महेंद्र हार्डिया, श्री मधु वर्मा तथा श्री मनोज पटेल, श्री कृष्णमुरारी मोघे,श्री गौरव रणदिवे, पुलिस कमिश्नर श्री मकरन्द देउस्कर, कलेक्टर श्री आशीष सिंह ने भी स्वागत किया।


पं. दीनदयाल उपाध्याय जी की पुण्यतिथि पर श्रद्धासुमन अर्पित कर किया नमन

11 Feb 2024
मुख्यमंत्री, प्रदेश अध्यक्ष, पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेष संगठन महामंत्री ने लालघाटी में अर्पित किए पं. उपाध्याय जी को श्रद्धासुमन
भोपाल।एकात्म मानववाद के प्रणेता पं. दीनदयाल उपाध्याय जी की पुण्यतिथि पर प्रदेश भर में कार्यकर्ताओं ने श्रद्धासुमन अर्पित की। भोपाल के लालघाटी चौराहे पर पं. दीनदयाल जी की प्रतिमा पर मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव, प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा, पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान एवं प्रदेष संगठन महामंत्री श्री हितानंद जी ने श्रद्धासुमन अर्पित किए। इस दौरान उपस्थित सभी नेताओं ने जयघोष के नारे लगाये।

पं. दीनदयाल उपाध्याय जी ने भारतीय संस्कृति की पताका दुनियाभर में फहराई- डॉ. मोहन यादव

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने पं. दीनदयाल उपाध्याय जी को पुष्पांजलि अर्पित करते हुए कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय जी ने जनसंघ की स्थापना से लेकर जीवन की अंतिम सांस तक लगातार अपने पूरे जीवन को यज्ञ में आहूत की तरह समाहित करते हुए देश ही नहीं दुनिया में भारतीय संस्कृति की पताका फहराई। ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ का भाव रखते हुए सबके प्रगति और विकास के लिए राजनीति का एक नया दर्शन दिया, जिसे दुनिया एकात्म मानव दर्शन के नाम से जानती है। जिसका मूल भाव गरीब से गरीब व्यक्ति के जीवन में बदलाव आए और उन्हें मूलभूत सुविधाओं की प्राप्ति हो। ऐसे पं. दीनदयाल उपाध्याय जी की पुण्यतिथि पर आज उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किया। आज एक और खास दिन है कि दुनिया के सर्वाधित लोकप्रिय नेता प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी पं. दीनदयाल जी की पुण्यतिथि को सार्थक करते हुए झाबुआ में आ रहे हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी प्रदेश के आदिवासी बहुल झाबुआ आकर हम सबको यह संदेश दे रहे हैं कि गरीबों के जीवन में बदलाव लाने के लिए उनके पास जाना होगा। गरीबों के कल्याण के कार्यों के साथ उनके जीवन में बदलाव लाने का कार्य प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी कर रहे हैं। आज प्रधानमंत्री जी झाबुआ में आयोजित जनजातीय बंधुओं के महाकुंभ को भी संबोधित करने के साथ धार-झाबुआ और खरगोन के साथ प्रदेश को 7550 करोड़ के विकास कार्यों की सौगात देंगे। धार-झाबुआ जिले में रेल और हवाई जहाज जैसी सुविधा हो यह प्रधानमंत्री जी का विजन है। मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार प्रधानमंत्री जी के विजन को लेकर डबल इंजन की सरकार के साथ चलने को तत्पर है।

भाजपा पं. दीनदयाल उपाध्याय जी के विचारों पर कार्य कर रही : श्री विष्णुदत्त शर्मा

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा ने श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा कि हम सभी के श्रद्धा और आदर्श के केंद्र पं. दीनदयाल उपाध्याय जी ने जनसंघ से लेकर भारतीय जनता पार्टी के लिए एक ऐसा दर्शन दिया, जिसके आधार पर चलकर आज भारतीय जनता पार्टी दुनिया का सबसे बड़ा राजनीतिक दल बनी है। राजनीतिक दल बनने के बाद भारत भर में आज पंच-सरपंच से लेकर देश के प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति तक भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता हैं। पार्टी के कार्यकर्ता पं. दीनदयाल उपाध्याय जी के एकात्म मानव दर्शन व अंत्योदय के विचार को प्रतिपादित करने का काम कर रहे हैं। पं. उपाध्याय जी ने जो विचार दिया उसे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में देश में और मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव के नेतृत्व में प्रदेश में हर गरीब का जीवन बदलने का काम हमारी सरकार कर रही हैं। भाजपा लगातार पं. दीनदयाल उपाध्याय जी के विचारों पर कार्य कर रही है।

इस अवसर पर प्रदेष शासन की मंत्री श्रीमती कृष्णा गौर, विधायक श्री रामेष्वर शर्मा, महापौर श्रीमती मालती राय, भोपाल जिला अध्यक्ष श्री सुमित पचौरी सहित जनप्रतिनिधि, जिला पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।





मंडला में आयुर्वेद कॉलेज और एक्सीलेंस कॉलेज शुरू होंगे - मुख्यमंत्री डॉ. यादव

10 Feb 2024
मुख्यमंत्री ने लाड़ली बहनों को सिंगल क्लिक से किये 1576 करोड़ रूपये अंतरित 134 करोड़ रूपयों के विकास कार्यो का भूमिपूजन एवं लोकार्पण हुआ वीरांगना रानी दुर्गावती की प्रतिमा का हुआ लोकार्पण जनजातीय बहुल मंडला को मिली सौगातें
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा है कि मंडला अंचल के विकास में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी जाएगी। जनजातीय बहुल मंडला में आय़ुर्वेद महाविद्यालय प्रारंभ किया जाएगा। एलोपैथी चिकित्सा पद्धति वाले मेडिकल कॉलेज के साथ ही जिले को आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति का भी लाभ मिले। कोविड के समय आयुर्वेद का महत्व देखने को मिला था, तब आयुर्वेद के काढ़े ने नागरिकों को महामारी से बचाने का काम किया था। जल्द ही मंडला में एक्सीलेंस कॉलेज भी प्रारंभ किया जाएगा। इसकी शीघ्र शुरूआत होगी और आगामी सत्र से विद्यार्थी लाभान्वित होंगे।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव आज मंडला के रानी दुर्गावती महाविद्यालय परिसर में हुए राज्य स्तरीय कार्यक्रम से प्रदेश की 1.29 करोड़ लाड़ली बहनों को कुल 1576 करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता राशि का अंतरण कर रहे थे। इसके साथ ही उन्होंने सामाजिक सुरक्षा पेंशन का लाभ ले रहे 56 लाख 61 हजार हितग्राहियों के खातों में 340 करोड़ रुपये की राशि का भी सिंगल क्लिक से अंतरण किया। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने 134 करोड़ रुपये विभिन्न विकास कार्यों का भूमिपूजन और लोकार्पण किया। इसके अलावा मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने 12 पेंशन योजनाओं के हितग्राहियों को भी प्रतीक स्वरूप लाभान्वित किया।

जनजातीय बहुल मंडला जिले को कई सौगातें

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि यह भूमि वीरांगनाओं की भूमि है। रानी दुर्गावती ने अपने बलिदान से भारत का मान और सम्मान बढ़ाया। इसी तरह राष्ट्र के लिए जीवन का यहां रानी अवंती बाई ने भी बलिदान किया। नई शिक्षा नीति के माध्यम से ऐसी वीरांगनाओं के बलिदान से स्कूल, कॉलेजों के विद्यार्थियों को अवगत करवाने की पहल की गई है। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि वीरांगनाओं के पराक्रम की जानकारी नई पीढ़ी के अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचना चाहिए। आज रानी दुर्गावती की प्रतिमा का अनावरण यहां हुआ है। इसके पहले प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 5 अक्टूबर 2023 को रानी दुर्गावती की 500वीं जयंती पर उनके जीवन के विविध पहलुओं से परिचित करवाने वाले विशेष स्मारक के लिए जबलपुर में भूमिपूजन किया था। अब जन-जन को यह स्मारक रानी दुर्गावती के बलिदान के महत्व की जानकारी देने का महत्वपूर्ण केन्द्र बनेगा। इसकी लागत 100 करोड़ रूपए है।

जनजातीय बहुल क्षेत्र को प्राथमिकता देने जबलपुर केबिनेट में हुए निर्णय

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि इस क्षेत्र में श्रीअन्न का उत्पादन होता है। इसके उत्पादकों को लाभान्वित करने के लिए राज्य शासन ने किसानों को 10 रूपए प्रति किलो (एक हजार रूपए प्रति क्विंटल) अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि देने का निर्णय लिया। कोदो-कुटकी के उत्पादन को प्रोत्साहन देने की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने जनजातीय बहुल क्षेत्र को प्राथमिकता देने और रानी दुर्गावती जैसी वीरांगनाओं के सम्मान में जबलपुर में मंत्री-परिषद की बैठक में निर्णय लिये गये।

प्रधानमंत्री श्री मोदी जनजातीय विकास के लिए है संकल्पबद्ध

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में सभी क्षेत्रों में विकास हो रहा है। उन्होंने जन-धन योजना जैसी अभिनव योजना और अन्य कई उपयोगी योजनाओं से नागरिकों को लाभान्वित करने का कार्य किया है। प्रधानमंत्री श्री मोदी रविवार 11 फरवरी को मध्यप्रदेश के झाबुआ में जनजातीय वर्ग के भाई-बहनों से रू-ब-रू होंगे। प्रधानमंत्री श्री मोदी जनजातीय विकास के लिए संकल्पबद्ध हैं। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि एक समय था जब नर्मदा जल के समुचित उपयोग की कोई योजना नहीं थी। गत दो दशक में मध्यप्रदेश और गुजरात द्वारा पेयजल, सिंचाई के लिए नर्मदा जल के सही उपयोग ने नागरिकों की जिन्दगी बदलने का कार्य किया है।

भारतीय संस्कृति का महत्व प्रतिपादित करते हैं पर्व, शासन भी करेगा आयोजन

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि राज्य शासन ने भारतीय संस्कृति का महत्व प्रतिपादित करने वाले पर्वों-त्यौहारों के आयोजन पर जोर दिया है। इस क्रम में गत माह मकर संक्रांति पर्व पर विशेष सप्ताह मनाया गया था। इस सप्ताह में कई प्राचीन खेल आयोजित हुए, जिनमें कबड्डी खो-खो, दौड़, पतंगबाजी आदि शामिल हैं। प्रत्येक पर्व से रिश्ता होना चाहिए। हमारे त्यौहारों को मनाने में आम-जन के साथ शासन की भागीदारी को सुनिश्चित किया जा रहा है।

लाड़ली बहनों का दिन है आज

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि आज लाड़ली बहनों का दिन है। प्रतिमाह प्राप्त हो रही सहायता राशि से बहनों की गृहस्थी को आसान बनाया गया है। शासन सबकी बेहतरी के लिए है। आज जहाँ लाड़ली बहनों को राशि प्राप्त हुई है, वहीं कई तरह की पेंशन के हितग्राहियों को भी लाभ मिल रहा है। इसके साथ ही प्रदेश में बहनों को 450 रूपए प्रति हितग्राही गैस सिलेंडर की राशि दी गई है। बहनों को कुल 118 करोड़ रूपए की सब्सिडी दी जा चुकी है।

रानी दुर्गावती की प्रतिमा का अनावरण

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कार्यक्रम के प्रारंभ में मंडला में वीरांगना रानी दुर्गावती की प्रतिमा का अनावरण किया। इसके पूर्व मंडला अंचल की जनजातीय वर्ग की बहनों ने मुख्यमंत्री डॉ. यादव का जनजातीय चित्रकला की तस्वीरें भेंट कर स्वागत किया। मुख्यमंत्री डॉ. यादव एवं अन्य जनप्रतिनिधियों द्वारा कन्या पूजन से कार्यक्रम का शुभारंभ किया और कन्याओं को उपहार भी दिये।
लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्रीमती संपतिया उइके ने कहा कि रानी दुर्गावती की प्रतिमा के अनावरण से इस अंचल में जन-जन प्रसन्न है। जनभावनाओं का सम्मान हुआ है। यह रानी दुर्गावती के पराक्रम का ही उदाहरण था कि वे दोनों हाथों से तलवारें लेकर बाहरी आक्रमणकारियों से युद्ध करती रहीं। सुश्री उइके ने कहा कि मध्यप्रदेश में महिलाओं के कल्याण के लिए महत्वपूर्ण कार्य हो रहा है। कार्यक्रम में जिले के विधायकों सहित अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

आज प्रारंभ विकास कार्य एक नजर में

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने आज जिन छह कार्यों का लोकार्पण किया, उनमें मंडला जिले के नारायणगंज, नैनपुर विकासखंड में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में 8 करोड़ 55 लाख के मार्ग और लोक निर्माण विभाग के मद से निवास एवं नारायणगंज विकासखंडों में 5 करोड़ 58 लाख के दो भवन शामिल हैं। जिन कार्यों का भूमिपूजन हुआ है, उनमें जनजातीय कार्य विभाग के अंतर्गत बिछिया, बीजाडांडी, मवई, घुघरी, मंडला, नैनपुर और मोहगांव विकासखंडों के 30 करोड़ 12 लाख रूपए के 10 कार्य एवं लोक निर्माण विभाग के मद से मवई, नैनपुर, बिछिया, निवास, घुघरी, बीजाडांडी, नारायणगंज और मोहगांव विकासखंड के 9 करोड़ 26 लाख रूपए के 11 कार्य शामिल हैं।


मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने किया शोक व्यक्त
10 Feb 2024
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने वरिष्ठ पत्रकार श्री राकेश अग्निहोत्री के पिता और समाज सेवी श्री आर.एन. अग्निहोत्री के निधन पर दु:ख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने दिवंगत आत्मा की शांति और शोकाकुल परिजन को यह दु:ख सहने की सामर्थ्य देने की प्रार्थना की है।


उप मुख्यमंत्री श्री शुक्ल ने वरिष्ठ पत्रकार श्री अग्निहोत्री के पिता के निधन पर दु:ख व्यक्त किया
10 Feb 2024
भोपाल।उप मुख्यमंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल ने वरिष्ठ पत्रकार श्री राकेश अग्निहोत्री के पिता समाजसेवी श्री आर. एन. अग्निहोत्री के निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने ईश्वर से दिवंगत आत्मा को श्री चरणों में स्थान देने और शोक संतृप्त परिजनों को यह दुःख सहने की क्षमता प्रदान करने की प्रार्थना की है।


जवाबदेही, पारदर्शिता और सेवा-भाव है सुशासन का मूलमंत्र: मुख्यमंत्री डॉ. यादव

10 Feb 2024
जवाबदेही, पारदर्शिता और सेवा-भाव है सुशासन का मूलमंत्र: मुख्यमंत्री डॉ. यादव
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि शासन की संपूर्ण व्यवस्थाओं में जनता के प्रति जवाबदेही, पारदर्शिता और सेवा-भाव से सभी को समर्पित कार्यप्रणाली सुनिश्चित करना सुशासन का मूलमंत्र है। भारतवर्ष में आदिकाल से ही सुशासन की परंपरा रही है, चाहे वह भगवान राम का काल हो या सम्राट विक्रमदित्य और राजा भोज का काल। आदिकाल की इसी परंपरा पर चलते हुए मध्य प्रदेश राज्य भी सुशासन के नए अध्याय लिख रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी उनके लिए सुशासन के प्रेरणास्त्रोत हैं। ये विचार मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने आज डॉ. अम्बेडकर इंटरनेशनल सेंटर में रामभाउ म्हलगी प्रबोधिनी संस्था के तत्वाधान में आयोजित सुशासन महोत्सव 2024 के मध्यप्रदेश राज्य के सत्र के दौरान व्यक्त किए।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि सुशासन की परिकल्पना में प्रदेश के मंत्रिमंडल को दक्ष बनाने और जनता के प्रति जवाबदेह बनाने के उद्देश से दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित की गई थी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के मंत्रिमंडल को प्रशिक्षण के उपरांत अधिकारियों पर निर्भरता भी कम होगी।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने सुशासन का महत्व बताते हुए कहा कि सुशासन के जरिए जीवन में बदलाव लाने वाली अंत्योदय आधारित, पारदर्शी, संवेदनशील और गरीबोन्मुखी कार्यप्रणाली की व्यवस्था करना राज्य शासन का ध्येय है, जिससे आम नागरिक भी स्वाभिमान के साथ जीवनयापन कर सके। उन्होंने बताया कि प्रदेश में शिक्षा, कानून व्यवस्था, स्वास्थ्य, रोजगार और पर्यावरण सरकार की प्राथमिकताएं हैं, जिस पर पिछले दो माह से काम जारी है। पहली ही कैबिनेट में प्रदेश में सभी जिलों में एक्सीलेंस महाविद्यालय स्थापित करने का निर्णय लिया गया था। खाद्य सुरक्षा अधिनियम और कोलाहल अधिनियम के तहत प्रभावी कार्यवाही करते हुए लगभग 25,000 दुकानें एक दिन में बंद करवाई गईं और 32,000 से अधिक ध्वनि प्रदूषण यंत्र जब्त किए गए। दुर्दांत अपराधियों के विरुद्ध भी शासन सख्त कार्रवाई कर रही है।
सुशासन महोत्सव का उद्घाटन राज्यसभा सांसद श्री जेपी नड्डा ने किया। इस अवसर पर महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री और रामभाउ म्हलगी प्रबोधिनी के अध्यक्ष श्री देवेन्द्र फडणवीस तथा उपाध्यक्ष डॉ. विनय सहत्रबुद्धे भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव के सत्र का संचालन इंडियन इंस्टीट्यूट आफ डेमोक्रेटिक लीडरशिप के कोर्स डायरेक्टर प्रो. देवेंद्र पाई ने किया।


अभियोजन स्वीकृति से संबंधित मंत्रि परिषद समिति का पुनर्गठन
09 Feb 2024
मुख्यमंत्री डॉ.मोहन यादव होंगे अध्यक्ष
भोपाल।राज्य शासन द्वारा लोकायुक्त संगठन, आर्थिक उपराध प्रकोष्ठ एवं अन्य एजेंसियों में पंजीबद्ध प्रकरणों में अधिकारी/कर्मचारियों के विरूद्ध अभियोजन स्वीकृति देने संबंधी प्रकरणों में विधि एवं विधायी कार्य विभाग एवं प्रशासकीय विभाग के अभिमत में भिन्नता होने पर ऐसे प्रकरणों में विचार करने के लिये मंत्रि-परिषद समिति का पुनर्गठन किया गया है।
मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव इसके अध्यक्ष होंगे। उप मुख्यमंत्री श्री जगदीश देवड़ा, उप मुख्यमंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री कैलाश विजयवर्गीय, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, श्रम विभाग मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल एवं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग मंत्री श्रीमती सम्पतिया उईके सदस्य होंगे। मुख्य सचिव समिति के सचिव और अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन विभाग समिति के समन्वयक होंगे।
उक्त समिति मुख्यमंत्री से संबद्ध सामान्य प्रशासन, गृह, जेल, औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन, जनसंपर्क, नर्मदा घाटी विकास, विमानन, खनिज साधन, लोक सेवा प्रबंधन, प्रवासी भारतीय विभाग के अलावा ऐसे विभाग जो किसी अन्य मंत्री को न सौंपे गये हो। इन विभागों के संबंध में समिति निर्णय लेगी।


मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने चौधरी चरण सिंह, श्री पीवी नरसिम्हा राव और डॉ. स्वामीनाथन को भारत रत्न से सम्मानित करने के निर्णय पर व्यक्त की प्रसन्नता
09 Feb 2024
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने प्रधानमंत्री श्री मोदी का माना आभार
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह, पूर्व प्रधानमंत्री श्री पीवी नरसिम्हा राव और कृषि वैज्ञानिक डॉ. एमएस स्वामीनाथन को मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किए जाने का निर्णय समूचे देश के लिए प्रसन्नता का विषय है। मुख्यमंत्री ने इस निर्णय के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का आभार माना है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में दलगत राजनीति से ऊपर उठकर विभिन्न क्षेत्रों के योगदान को उदारतापूर्वक याद रखने और भारत रत्न से सम्मानित करने का निर्णय लिया गया है।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह ने अपनी शैली से सर्वहारा वर्ग में एक विशेष छवि बनाई। लोकतंत्र के सेनानी के रूप में उन्होंने आपातकाल का डटकर विरोध किया। वे उत्तरप्रदेश के किसानों के बड़े नेता के रूप में जाने जाते हैं और उनके कृषि क्षेत्र के योगदान को सदा याद रख जाएगा।
मुख्यमंत्री डॉ यादव ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री श्री पीवी नरसिम्हा राव एक मूर्धन्य विद्वान थे। इनका राजनैतिक जीवन विधायक, सांसद, मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री और प्रधानमंत्री के रूप में देश को समर्पित रहा है। शांत प्रवृत्ति के होने के बावजूद भी उनका काम बोलता था। उनके वित्तीय प्रबंधन ने राष्ट्र निर्माण में अहम भूमिका निभाई है।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि डॉ. एमएस स्वामीनाथन को भारत रत्न दिया जाना कृषि जगत के लिए उल्लास का क्षण है और वैज्ञानिक जगत के लिए गौरव की बात है। हरित क्रांति के क्षेत्र में उनके योगदान से कृषि लाभ का धंधा बन पाया और असंख्य किसानों के जीवन में सुख का सूरज निकल सका।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने तीनों विभूतियों के देश के विकास में दिए गए योगदान को याद कर नमन किया।


प्रदेश में चलाया जाएगा "जल-हठ" अभियान : मंत्री श्री सिलावट

09 Feb 2024
पुराने तालाबों और जल स्रोतों का किया जाएगा संरक्षण और संवर्धन जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट ने पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री पटेल से भेंट कर दिया प्रस्ताव
भोपाल।प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश के प्रत्येक ग्राम में "हर घर जल" पहुंचाने के लिए वर्ष 2019 में जल जीवन मिशन शुरू किया गया। इस मिशन की पूर्ण सफलता के लिए प्रदेश में मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव के नेतृत्व में "जल-हठ" अभियान जन आंदोलन के रूप में चलाया जाएगा। जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने कहा है कि इसमें सरकार और समाज की भागीदारी से हर गांव, हर नगर में पुराने तालाबों एवं अन्य जल स्रोतों का उन्नयन, विकास, सौंदरीकरण, गहरीकरण कराया जाएगा तथा जल स्रोतों के आस पास किए गए अतिक्रमण को हटाकर वृक्षारोपण किया जाएगा।
जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट ने इस संबंध में विभागीय प्रस्ताव पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल को उनके निवास पहुंचकर प्रदान किया तथा अनुरोध किया कि प्रदेश के प्रत्येक ग्राम में "जल-हठ" अभियान को जन आंदोलन के रूप में चलाया जाए। मंत्री श्री पटेल ने आश्वस्त किया के प्रदेश की हर ग्राम पंचायत में जल स्रोतों के संरक्षण एवं जल संवर्धन को जन आंदोलन का रूप दिया जाएगा।
अभियान के अंतर्गत जल स्रोतों के अतिक्रमणों को प्राथमिकता से हटाया जाएगा। प्रदेश के तालाबों एवं अन्य जल स्रोतों में अतिक्रमण से उनका कैचमेंट एरिया समाप्त होता जा रहा है, जिससे जल स्रोतों में प्रदूषण की समस्या बढ़ रही है तथा सिंचाई एवं पीने का पानी कम हो रहा है। ग्रामीण क्षेत्र के छोटे-छोटे नदी नालों में पहले वर्ष भर जल संरक्षित रहता था, ये नदी नाले अब समाप्तप्राय हो गए हैं। वर्षा के जल को संरक्षित करने एवं भूजल उन्नयन के लिए इन्हें पुनर्जीवित करना अत्यंत आवश्यक है।
"जल-हठ" अभियान के अंतर्गत प्रदेश के सभी जिलों में प्राकृतिक जल स्रोतों, तालाबों के पुनर्जीवन कार्य के लिए उन्हें चिन्हित कर विभागीय योजना बनाई जाएगी और समाज के विभिन्न वर्गों एवं स्वेच्छिक संगठनों के सहयोग से इसे जन आंदोलन के रूप में चलाया जाएगा। अभियान में सभी जनप्रतिनिधियों, सामाजिक/ सांस्कृतिक संगठनों, खेल संस्थाओं, शैक्षणिक संस्थानों, संत महंतों तथा बुद्धिजीवी वर्ग का भी पूरा सहयोग लिया जाएगा।
मध्य प्रदेश में जल संरक्षण एवं संवर्धन की समृद्धशाली परंपरा रही है। प्रदेश की चंदेल एवं गोंडकालीन जल संरक्षण प्रणाली न केवल भारत में, बल्कि पूरे विश्व में प्रसिद्ध रही। हमने प्रदेश में सिंचाई संसाधनों की बढ़ोतरी में आशातीत सफलता पाई है। वहीं तालाबों के पुनर्जीवन और जीर्णोद्धार के लिए कई व्यापक कार्य किए गए हैं। सरकार की प्राथमिकता प्राकृतिक जल स्रोतों एवं तालाब को बचाने की है और उसके लिए हम योजनाबद्ध तरीके से काम कर रहे हैं।


मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री राजन ने मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों के साथ की बैठक

08 Feb 2024
भोपाल।मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री अनुपम राजन ने गुरुवार को मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों के साथ निर्वाचन सदन भोपाल में बैठक की। मतदाता सूची के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 2024 अंतर्गत मतदाता सूची के अंतिम प्रकाशन के संबंध में राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों को जानकारी देकर फोटो निर्वाचक नामावली के अंतिम प्रकाशन की सीडी उपलब्ध कराई गई।
श्री राजन ने बताया कि विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 2024 अंतर्गत प्रदेश के सभी 64 हजार 523 मतदान केंद्रों एवं 230 निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों के कार्यालय में मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन किया गया। श्री राजन ने बताया कि अंतिम प्रकाशन सूची को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी मध्यप्रदेश की वेबसाइट पर भी देखा जा सकता है।

प्रदेश में 5 करोड़ 64 लाख 15 हजार 310 है मतदाताओं की संख्या:

फोटो निर्वाचक नामावली के अंतिम प्रकाशन के दौरान प्रदेश में कुल सामान्य मतदाताओं की संख्या 5 करोड़ 63 लाख 40 हजार 064 है, जिसमें पुरुष मतदाता 2 करोड़ 89 लाख 51 हजार 705 है। महिला मतदाताओं की संख्या 2 करोड़ 73 लाख 87 हजार 122 है, जबकि थर्ड जेंडर मतदाता 1237 है।
सेवा मतदाताओं की कुल संख्या 75 हजार 246 है, जिसमें 72 हजार 949 पुरुष एवं 2 हजार 297 महिला मतदाता है। इस प्रकार प्रदेश में कुल मतदाताओं की संख्या 5 करोड़ 64 लाख 15 हजार 310 है।

नाम जुड़वाने के लिए ऑनलाइन-ऑफलाइन कर सकते हैं आवेदन

श्री राजन ने कहा कि ऐसे मतदाता जिनका नाम मतदाता सूची में दर्ज नहीं है वे अपना नाम मतदाता सूची में जुड़वा सकते हैं। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा मतदाता सूची में नाम जुड़वाने के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन की सुविधा प्रदान की गई है। इसके लिए नागरिक Voter Helpline App और voters.eci.gov.in के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन और ऑफलाइन के लिए बीएलओ से संपर्क कर सकते हैं। इसके साथ ही निर्वाचन संबंधी किसी भी जानकारी एवं सहायता के लिए मतदाता कार्यालयीन समय में टोल फ्री नंबर 1950 पर कॉल कर सकते हैं।


उप मुख्यमंत्री श्री शुक्ल ने रीवा में पुनर्घनत्वीकरण योजना के कार्यों की समीक्षा की

08 Feb 2024
भोपाल।उप मुख्यमंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल ने वल्लभ भवन मंत्रालय में स्थित सभाकक्ष में रीवा ज़िले में सिरमौर चौराहा, बोदा रोड स्थित लोक निर्माण विभाग की 1.22 हेक्टेयर भूमि पर पुनर्घनत्वीकरण योजना के तहत नवीन निर्माण कार्यों की वृहद् समीक्षा की।
उप मुख्यमंत्री ने निवर्तन और शासकीय निर्माण हेतु प्रस्तावित भूमि तथा निर्माण कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने योजनांतर्गत प्रस्तावित 26 करोड़ 69 लाख रुपये लागत के शासकीय निर्माण कार्यों के साथ 54 करोड़ 28 लाख रुपये लागत के नवीन कार्यों को प्रस्ताव में शामिल करने के निर्देश दिये।
नवीन प्रस्तावित कार्यों में शासकीय संजय गाँधी अस्पताल में 41 करोड़ लागत से नवीन ओपीडी निर्माण सहित सिविल लाईनस स्थित पार्क में विभिन्न सुविधाओं का विकास और सिरमौर चौराहा के फ़्लाइओवर के आरओडब्ल्यू के लिये नगर निगम की दुकानों का विस्थापन कार्य शामिल है।
बैठक में प्रमुख सचिव नगरीय विकास और आवास श्री नीरज मंडलोई, आयुक्त म.प्र.गृह निर्माण एवं अधोसंरचना विकास मंडल श्री चन्द्रमौली शुक्ला उपस्थित थे।


50वें खजुराहो नृत्य महोत्सव का आयोजन 20 फरवरी से

08 Feb 2024
कथक कुंभ में 1500 से अधिक कलाकार बनाएंगे विश्व रिकॉर्ड प्रतिष्ठित शास्त्रीय नर्तकों के घुंघरुओं की झंकार और कदमताल से बिखरेगी छटा म.प्र. टूरिज्म बोर्ड आयोजित करेगा विभिन्न रोमांचकारी और अनुभव आधारित गतिविधियां
भोपाल।संस्कृति, पर्यटन और धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री धर्मेंद्र सिंह लोधी ने बताया कि देश की समृद्ध संस्कृति और विरासत के उत्सव का उजास 20 फरवरी से खजुराहो नृत्य महोत्सव के रूप में होने जा रहा है। यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल खजुराहो की धरती एक बार फिर शास्त्रीय नृत्य की प्रस्तुतियों से गुंजायमान होगी। बुंदेलों की धरती पर देशभर से पधारने वाले प्रतिष्ठित लोक नर्तक अपनी घुंघरुओं की झंकार और कदमताल से छटा विखरेंगे। खजुराहो नृत्य महोत्सव 1975 में शुरू हुआ और इस वर्ष यह अपना स्वर्ण जयंती वर्ष मना रहा है। इस उपलब्धि को खास एवं यादगार बनाने के लिये संस्कृति विभाग द्वारा कथक-कुंभ का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें प्रथम दिवस 20 फरवरी, 2024 को कथक नृत्य के 1500 से 2000 कलाकारों द्वारा सामूहिक नृत्य ‘‘कथक-कुंभ’’ प्रस्तुत कर ‘‘विश्व रिकॉर्ड’’ स्थापित किये जाने का लक्ष्य रखा गया है।
संस्कृति विभाग द्वारा उस्ताद अलाउद्दीन खाँ संगीत एवं कला अकादमी, मध्य प्रदेश संस्कृति परिषद्, भोपाल के माध्यम से खजुराहो में प्रतिवर्ष खजुराहो नृत्य समारोह का आयोजन मध्यप्रदेश पर्यटन विभाग एवं पुरातत्व विभाग की सहभागिता से किया जाता है। पश्चिमी मंदिर समूह परिसर के अंदर चंदेलकालीन कंदारिया महादेव मंदिर तथा देवी जगदंबा मंदिर के मध्य विशाल मुक्ताकाशी मंच पर यह उत्सव 26 फरवरी तक आयोजित होगा।
प्रमुख सचिव पर्यटन एवं संस्कृति विभाग श्री शिव शेखर शुक्ला ने कहा, ‘खजुराहो नृत्य समारोह को शुरू करने का उद्देश्य शास्त्रीय नृत्यों का संरक्षण ही नहीं अपितु इसके इतर शास्त्रीय नृत्य द्वारा कला की सर्वोत्तम अनुभूति कला रसिकों को करवाने एवं इससे जुड़े सभी कलाकारों को प्रोत्साहित करना है। विश्व रिकॉर्ड के अलावा महोत्सव में पहली बार लयशाला का आयोजन होगा। इसमें भारतीय नृत्य शैलियों के अपनी विधा के श्रेष्ठ गुरूओं के साथ शिष्यों का संगम और कार्यशालाएं होंगी’।
प्रमुख सचिव श्री शुक्ला ने कहा यह देश का अत्यंत ख्यातिलब्ध समारोह है और इसमें अब तक भारत की सभी प्रमुख शास्त्रीय नृत्य शैलियों के कलाकार अपनी नृत्यों की प्रस्तुतियाँ दे चुके हैं। इस वर्ष भी देश के ख्यातिलब्ध प्रतिष्ठित कलाकार शिरकत कर रहे हैं।
खजुराहो नृत्य समारोह में अब तक भारत की सभी प्रमुख शास्त्रीय नृत्य शैलियों जैसे भरतनाट्यम, ओडीसी, कथक, मोहिनीअट्टम, कुचिपुड़ी, कथकली, यक्षगान, मणिपुरी आदि के युवा और वरिष्ठ कलाकार अपनी कला की आभा बिखेर चुके हैं।

म.प्र. टूरिज्म की ओर से मिलेगी सैलानियों को रोमांच की सौगात

महोत्सव के दौरान खजुराहो में देश-विदेश से पहुंचने वाले सैलानियों को विभिन्न गतिविधियाँ रोमांचित करेगी। म.प्र. टूरिज्म बोर्ड द्वारा विभिन्न रोमांचक गतिविधियां आयोजित की जाएंगी। सैलानियों को रोमांचित करने के लिए स्काई डाईविंग (20-25 फरवरी 2024), कैम्पिंग, ट्रेल जॉय राइड, वाटर एडवेंचर, स्पीड बोट, बनाना राईड, शिकारा बाईड, ऱॉफ्टिंग, विलेज टूर, ई-बाइक टूर, रानेह फॉल टूर, दतला पहाड़, सेगवे टूर, खजुराहो नाईट टूर, फॉर्म टूर जैसी गतिविधियां आयोजित होंगी।

मध्यप्रदेश रूपंकर कला पुरस्कार/प्रदर्शनी एवं अलंकरण

शुभारम्भ अवसर पर मध्यप्रदेश रूपंकर कला पुरस्कार/प्रदर्शनी एवं अलंकरण होगा। इसमें राज्य शासन द्वारा प्रदेश के विख्यात रूपंकर कलाकारों के नाम से स्थापित 10 राज्य स्तरीय पुरस्कार चयनित कलाकारों को प्रदान किये जाएंगे। अलंकृत कलाकारों को पुरस्कार स्वरूप सम्मान राशि प्रदान करते हुए प्रशंसा पत्र, शॉल व श्रीफल से सम्मानित किया जाएगा।

महोत्सव के दौरान होंगी विभिन्न गतिविधियां

नेपथ्य- भारतीय नृत्य शैलियों का सांस्कृतिक परिदृश्य एवं कलायात्रा।
प्रदर्शनी के अन्तर्गत शास्त्रीय, लोक और जनजातीय नृत्य रूपाकारों के परिधान, आभूषण, अलंकरण, साहित्य और संगीत वाद्यों के साथ-साथ चित्र शैलियाँ एवं पर्व-त्यौहार अर्थात् समग्रता में कला और संस्कृति को प्रदर्शित किया जाता है।

कलावार्ता- कलाकार और कलाविदों का संवाद

संस्कृति के विभिन्न अनुशासनों के कला-मर्मज्ञों एवं कलाकारों के बीच संस्कृति संवाद के साथ ही विभिन्न कलारूपों के प्रतिनिधि, प्रस्तुतिकार, कला समीक्षक, कला-मर्मज्ञ एवं विद्वतजन भारतीय कलाओं और उनमें निहित दर्शन पर श्रोताओं से गम्भीर विमर्श करते हैं।

हुनर- देशज ज्ञान एवं कला परम्परा का मेला

भारत में सौन्दर्यबोध समाज के सभी वर्गों की परम्परा के अनुरूप रूपाकारों/कलाकारों द्वारा निर्मित मिट्टी शिल्प, काष्ठ शिल्प, लौह शिल्प, बाँस शिल्प, कपड़ा बुनाई-रंगाई-छपाई आदि शिल्प परम्परा की निर्माण प्रक्रिया, तकनीक और डिजाइन उन्नयन को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से प्रतिवर्ष खजुराहो में हुनर के नाम से शिल्प मेले का आयोजन करते हैं।

वर्तनी : ललित कलाओं का मेला

आर्ट-मार्ट कला प्रदर्शनी के अन्तर्गत ललित कलाओं जैसे मूर्ति शिल्प, चित्रांकन, छायाचित्र, छापा चित्र, काष्ठ शिल्प आदि के कलाकार अपनी कृतियाँ प्रदर्शित करते हैं। कलाकारों से दर्शक खुलकर कला से संबंधित विभिन्न आयामों पर चर्चा करने हेतु भी आमंत्रित रहते हैं।

समष्टि: टेराकोटा और सिरेमिक राष्ट्रीय प्रदर्शनी-कार्यशाला

देश भर के टेराकोटा एवं सिरेमिक माध्यम पर कार्य करने वाले कलाकार अपने भीतर उठने वाली रचनात्मक हिलोरों को साकार कर पाते हैं। भारत की संस्कृति में माटी शिल्प की पुरानी परंपरा को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से समष्टि कार्यशाला का आयोजन किया जाता है।

लोकनृत्य की प्रस्तुतियाँ

नृत्य की अन्य गतिविधियों के रूप में दक्षित मध्य सांस्कृतिक केन्द्र, नागपुर द्वारा ‘‘लोकनृत्य’’ की प्रस्तुतियों का आयोजन किया जायेगा।

वर्तनी : अन्तर्राष्ट्रीय छापा कला

अन्तर्राष्ट्रीय ‘‘प्रिंट विनाले’’ में भारत भवन, भोपाल द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय ज्यूरी से पुरस्कृत 50 छापा चित्रों (प्रिंट) की प्रदर्शनी ‘‘वर्तनी’’ का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें प्रमुखतः निम्नलिखित देशों जापान, कोरिया, स्विटजरलैण्ड, फ्रांस, भारत, ईरान, नार्वे, स्वीडन, अमेरिका आदि के कलाकारों के चित्र सम्मिलित किये गये हैं।

लयशाला : श्रेष्ठ गुरूओं के साथ शिष्यों का संगम और कार्यशाला

देशभर की विभिन्न नृत्य शैलियों के गुरूओं तथा उनके शिष्यों का श्रेष्ठ गुरूओं एवं विभिन्न विधाओं के श्रेष्ठ कलाकारों का संवाद और उनकी विधाओं पर केन्द्रित कार्यशाला का आयोजन किया जायेगा, जिससे रसिकजनों और कलाप्रेमियों को अत्यधिक लाभ मिलेगा और विद्यार्थी नृत्य शैली विभिन्न घरानों से परिचित होंगे और खजुराहो नृत्य समारोह के अन्तर्गत लयशाला कार्यक्रम में सहभागिता करते हुए अपने आप को गौरान्वित महसूस करेंगे।


उप मुख्यमंत्री श्री शुक्ल ने हमीदिया हॉस्पिटल में हरदा दुर्घटना पीड़ित मरीज़ों का कुशल-क्षेम पूछा

07 Feb 2024
भोपाल।उप मुख्यमंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल ने हमीदिया हॉस्पिटल में हरदा दुर्घटना पीड़ितों से मुलाक़ात की और कुशल-क्षेम पूछा। उन्होंने मरीज़ों के परिजन को ढाँढ़स बँधाया और आश्वस्त किया कि इलाज में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी जाएगी। उन्होंने प्रत्येक मरीज़ के चल रहे उपचार कार्यों की जानकारी प्राप्त कर समुचित उपचार के निर्देश दिये।
उल्लेखनीय है कि हमीदिया हॉस्पिटल में वर्तमान में हरदा दुर्घटना के 27 पीड़ित मरीजों का इलाज चल रहा है। इनमें 7 महिलाएँ और 20 पुरुष हैं। 11 मरीज़ों की सर्जरी की गयी है। 26 मरीज़ों की स्थिति स्थिर है। एक मरीज़ आईसीयू में उपचाररत हैं। आयुक्त चिकित्सा शिक्षा श्री तरुण पिथौड़े, डीन मेडिकल कॉलेज भोपाल डॉ. सलिल भार्गव, अधीक्षक हमीदिया चिकित्सालय डॉ आशीष गोहिया उपस्थित थे।


अवैध शराब बिक्री, ध्वनि प्रदूषण और नियम विरूद्ध मांस विक्रय पर नियंत्रण के लिए सजग रहे प्रशासनिक अमला : मुख्यमंत्री डॉ. यादव

07 Feb 2024
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा है कि प्रदेश में फटाका निर्माण इकाईयों के नियम विरूद्ध संचालन पर रोक के अलावा शराब के अवैध कारोबार को रोकने, कोलाहल नियंत्रण संबंधी कानूनों के उल्लंघन को रोकने और खुले स्थान में नियम विरूद्ध तरीके से मांस के विक्रय पर नियंत्रण के लिए प्रशासनिक अमला सक्रिय और सजग होकर कार्यवाही करे।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने वीडियो कांफ्रेंस द्वारा मंगलवार को कलेक्टर्स को निर्देशित करते हुए कहा कि कुछ स्थानों से शराब के अवैध विक्रय और व्यापार की खबरें जानने को मिलती हैं। इसके लिए जिम्मेदार तत्वों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही होना चाहिए। इसके साथ ही नाबालिग बच्चों को भी नशे की लत लगाने के दोषी व्यक्तियों पर कार्यवाही की जाए। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि ध्वनि प्रदूषण के जिम्मेदार लोगों के विरूद्ध कानूनी कार्यवाही की जाए। निर्धारित मापदण्ड से अधिक आवाज में ध्वनि विस्तारक यंत्रों का प्रयोग प्रतिबंधित है। विद्यार्थियों की परीक्षाओं का समय है। इस नाते हम सभी को संवेदनशील होकर इस संबंध में दायित्व निर्वहन करना है। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कलेक्टर्स को निर्देश दिए कि परीक्षाओं में नकल की प्रवृत्ति पर अंकुश लगाने के लिए भी प्रभावी व्यवस्था लागू करें। शहरों और ग्रामों में मांस विक्रय का व्यवसाय करने वाले नियमों के विरूद्ध कार्य न करें। इसके लिए पूर्व में भी निर्देश दिए गए हैं। यह सुनिश्चित किया जाए कि नियम पूर्वक व्यवसाय का संचालन होता रहे। जन स्वास्थ्य की दृष्टि से समय-समय पर ऐसी दुकानों का निरीक्षण किया जाए।


मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने हरदा घटना पर बुलाई आपात बैठक

06 Feb 2024
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने हरदा में पटाखा फैक्ट्री में हुई दुर्घटना के संबंध में मंत्रालय में आपात बैठक ली। उन्होंने बैठक में अद्यतन स्थिति की जानकारी प्राप्त की और आवश्यक दिशा निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि घायलों को तत्काल उपचार उपलब्ध कराने के निर्देश देते हुए कहा कि इस समय यही सर्वोच्च प्राथमिकता है। हरदा के आसपास के क्षेत्र से एंबुलेंस हरदा पहुंचाई जा रही हैं इसके साथ ही हेलीकॉप्टरों की व्यवस्था के लिए सेना से संपर्क किया गया है। भोपाल, इंदौर में मेडिकल कॉलेज और एम्स भोपाल में बर्न यूनिट को तैयारी रखने के निर्देश दे दिए गए हैं। होशंगाबाद में भी अस्पतालों में घायलों के उपचार के लिए व्यवस्था की गई है।
हरदा में होशंगाबाद सहित आसपास के क्षेत्र से 14 डॉक्टर तत्काल रवाना किए गए हैं। हरदा में 20 एम्बुलेंस मौजूद हैं तथा 50 और पहुंच रही है। भोपाल, इंदौर, बैतूल, होशंगाबाद भेरूंदा, रेहटी सहित अन्य नगरीय निकायों तथा संस्थाओं से फायर ब्रिगेड हरदा भेजे जा रहे हैं।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कैबिनेट मंत्री श्री उदय प्रताप सिंह, अपर मुख्य सचिव श्री अजीत केसरी, डीजी होमगार्ड को तत्काल हेलीकॉप्टर से हरदा जाने के निर्देश दिए हैं। एनडीआरएफ/एसडीआरएफ की टीमों को भेजा जा रहा है।
बैठक में मुख्य सचिव श्रीमती वीरा राणा, पुलिस महानिदेशक श्री सुधीर सक्सेना, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव गृह श्री संजय दुबे, प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन एवं विकास श्री नीरज मंडलोई, प्रमुख सचिव सामान्य प्रशासन श्री मनीष रस्तोगी, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री राघवेंद्र कुमार सिंह तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


प्रधानमंत्री श्री मोदी की मंशानुरूप जनजातीय क्षेत्रों में चिकित्सा सुविधा विस्तार की योजना होगी क्रियांवित : मुख्यमंत्री डॉ. यादव

06 Feb 2024
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद की बैठक वंदे मातरम के गान के साथ आरंभ हुई। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने मंत्रि-परिषद की बैठक से पहले अपने संबोधन में कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी 11 फरवरी को झाबुआ पधार रहे हैं। प्रदेश सरकार ने जनजातीय क्षेत्रों में विकास और जन कल्याण के जो कार्य किए हैं, उन्हें आजादी के अमृत काल में वृहत्तर स्वरूप में आरंभ करने का संकल्प लेने के लिए वहां भव्य आयोजन होगा।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि लेखानुदान भी आने वाला है, जिसके माध्यम से हम भविष्य का रोड मैप तय करेंगे। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा विशेष रूप से जनजातीय क्षेत्रों में आयुर्वेदिक-होम्योपैथी-नेचुरोपैथी चिकित्सा सुविधा के विस्तार के संबंध में जो दिशा निर्देश दिए गए हैं, उनके अनुरूप आयुष विभाग के माध्यम से योजना क्रियान्वित की जाएगी।


किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर अल्पावधि फसल ऋण योजना निरन्तर रहेगी

06 Feb 2024
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद की बैठक मंत्रालय में हुई। मंत्रि-परिषद द्वारा कृषि उत्पादकता को बढ़ावा देने के लिए वर्ष 2023-24 में शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर कृषकों को अल्पावधि फसल ऋण दिये जाने की योजना को निरन्तर रखने की स्वीकृति दी हैं। सहकारी बैंकों के माध्यम से कृषकों को फसल ऋण प्रदान किया जायेगा। योजना में खरीफ 2023 सीजन की ड्यूडेट 28 मार्च, 2024 तथा रबी 2023-24 सीजन की ड्यूडेट 15 जून 2024 रखी गयी है। राज्य शासन ने योजना के अन्तर्गत फसल ऋण लेने वाले सभी किसानों को 1.5 प्रतिशत (सामान्य) ब्याज अनुदान तथा खरीफ एवं रबी सीजन की निर्धारित ड्यूडेट तक ऋण की अदायगी करने वाले किसानों को 4 प्रतिशत प्रोत्साहन स्वरूप (अतिरिक्त ब्याज अनुदान) दिया जायेगा। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश संकल्प पत्र 2023 में कृषि उत्पादकता को बढ़ावा देने के लिए किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज पर फसल ऋण प्रदाय करने का राज्य सरकार का संकल्प है।

प्रदेश में जिला स्तर पर चाइल्ड हेल्प लाइन के संचालन की स्वीकृति

मंत्रि-परिषद द्वारा मिशन वात्सल्य में चाइल्ड हेल्प लाइन के सुचारू और कुशल संचालन के लिए विभागीय आदेश में संशोधन की स्वीकृति दी गयी। संशोधन के अनुसार जिला स्तर पर जिला बाल संरक्षण इकाई द्वारा एक हेल्पलाईन यूनिट का संचालन किया जायेगा। इस कार्य के लिए मानव संसाधन का चयन भारत सरकार द्वारा निर्धारित अर्हता अनुसार विज्ञापन जारी कर पारदर्शी प्रक्रिया से किया जायेगा। चाइल्ड हेल्प लाइन के सभी स्टाफ संविदा पर रखे जाऐंगे।

मध्यप्रदेश विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक का अनुमोदन

मंत्रि-परिषद द्वारा मध्यप्रदेश विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक, 2024 के माध्यम से मध्यप्रदेश विश्वविद्यालय अधिनियम, 1973 में संशोधन प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया। विधेयक को आगामी विधानसभा सत्र में पुन:स्थापित और पारित कराने संबंधी कार्यवाही के लिए उच्च शिक्षा विभाग को अधिकृत किया गया। विधेयक में संशोधन अनुसार विश्वविद्यालयों में कुलपति पदनाम को कुलगुरू किये जाने पर अनुमोदन दिया गया हैं।

अन्य निर्णय

मंत्रि-परिषद द्वारा प्रदेश की मदिरा दुकानों के निष्पादन, देशी/विदेशी मदिरा प्रदाय व्यवस्था, भांग, भांगघोटा की फुटकर बिक्री की दुकानों के निष्पादन एवं अन्य के संबंध में वित्तीय वर्ष 2024-25 के लिए आबकारी नीति का अनुमोदन किया गया। मदिरा दुकानों के वर्ष 2023-24 के वार्षिक मूल्य में 15% की वृद्धि करने का निर्णय लिया गया।


उज्जैन में विक्रमोत्सव एक मार्च को

05 Feb 2024
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने एक मार्च को उज्जैन में विक्रमोत्सव, महाशिवरात्रि एवं नगर गौरव दिवस भव्य रूप में मनाये जाने के निर्देश दिये हैं। इस मौके पर व्यापार मेला और इन्वेस्टर्स समिट भी आयोजित होगी। उज्जैयनी विक्रम व्यापार मेले का समापन 9 अप्रैल 2024 को शिवज्योति अर्पण कार्यक्रम के साथ किया जाएगा। इन आयोजनों से उज्जैन में पर्यटन के साथ रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। सांस्कृतिक आयोजनों में प्रसिद्ध अभिनेत्री एवं नृत्यांगना हेमा मालिनी और पार्श्व गायक जुबिन नौटियाल और अमित त्रिवेदी के कार्यक्रम भी प्रस्तावित हैं। इस मौके पर “पौराणिक फिल्म फेस्टिवल” होगा। साथ ही विक्रम कैलेंडर और वैदिक घड़ी का लोकार्पण भी होगा।

व्यापार मेला

उज्जैन में उज्जैयनी विक्रय व्यापार मेले की तैयारियाँ भी की जा रही है। व्यापार मेले का आयोजन नगर निगम उज्जैन द्वारा किया जा रहा है। व्यापार मेले में ऑटोमोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक सेक्टर की दुकानें प्रमुख रूप से लगाई जायेगी। इनमें उज्जैन के स्थानीय व्यापारियों को वरीयता दी जा रही है। व्यापार मेले के अन्य सेक्टरों में विभिन्न वस्तुओं के डीलर्स को भी आमंत्रित किया जा रहा है। मेले में नागरिकों के लिये फूड जोन भी रहेगा। इस जोन में विशेष रूप से मालवा के व्यंजनों का लुत्फ नागरिक उठा सकेंगे। व्यापार मेले में पर्यटन, संस्कृति. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, कुटीर एवं ग्रामोद्योग विभाग के माध्यम से वस्तुओं का प्रदर्शन और बिक्री की जायेगी। व्यापार मेले का समापन 9 अप्रैल को होगा।

इन्वेस्टर्स समिट

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव के निर्देश पर उज्जैन के साथ संभाग के अन्य जिलों में उद्योगों को आकर्षित करने के लिये इन्वेस्टर्स समिट भी आयोजित की जा रही है। समिट में गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश सहित अन्य राज्यों के निवेशकों को आमंत्रित किया जा रहा है। समिट में गारमेंट्स, टेक्सटाइल और फूड प्रोसेसिंग यूनिट के जरिये स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसर बढ़ाने के प्रयास किये जा रहे हैं। सभी आयोजनों के लेकर उज्जैन में व्यापक तैयारियाँ चल रही हैं। आयोजन की प्रस्तावित गतिविधियों की सूची बनाई जा रही है। इन्वेस्टर्स समिट में आमंत्रित उद्योगपतियों और उनकी उद्योग इकाइयों की जानकारी अपडेट की जा रही है। एक मार्च को विक्रम व्यापार मेला, इन्वेस्टर्स समिट और विक्रमोत्सव के भव्य आयोजन की तैयारियों की पिछले दिनों सचिव एमएसएमई श्री पी. नरहरि और एमपीआईडीसी के एमडी ने स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों के साथ समीक्षा की।

वाणिज्यिक कर विभाग

ऑटोमोबाइल की खरीदी पर टेक्स में राज्य शासन द्वारा 50 प्रतिशत दी जा रही छूट का लाभ नागरिक प्राप्त कर सकेंगे। व्यापार मेले में ऑटोमोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट से जुड़ी कंपनी अपने प्रोडक्ट को व्यापार मेले में लाँच कर सकेंगी। उज्जैन जिला प्रशासन नगर पालिका उज्जैन अन्य शासकीय विभागों के साथ मिलकर एक मार्च से पीजीबीटी कॉलेज मैदान एवं दशहरा मैदान में 8 हेक्टेयर एरिया में आयोजन करने जा रहा है। यहाँ करीब 400 से अधिक दुकानें लगाई जाएंगी। 220 दुकानें पीजीबीटी मैदान में और 181 दुकानें दशहरा मैदान में संचालित होंगी। पर्यटन विभाग महाकाल दर्शन के साथ होटलों में रियायती दर पर रुकने की सुविधा उपलब्ध करायेगा।

स्वच्छता और सुरक्षा पर दिया जायेगा विशेष ध्यान

उज्जैन में एक मार्च से होने वाले आयोजनों में नागरिकों के सुविधाजनक आवागमन के साथ व्यापार मेला स्थल पर नगर निगम का स्वच्छता और सुरक्षा पर विशेष ध्यान रहेगा। संपूर्ण मेला क्षेत्र सीसीटीवी कैमरों से कवर रहेगा। मेला स्थल पर पार्किंग की व्यापक व्यवस्था रहेगी। व्यावसाईयों के लिये गोडाउन की व्यवस्था भी की गई है। इन आयोजनों में जन-भागीदारी को भी प्रोत्साहित किया जा रहा है।


सुशासन और जनकल्याण है प्रदेश शासन की प्राथमिकताएं : मुख्यमंत्री डॉ. यादव
05 Feb 2024
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने कहा कि वे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के सुशासन की आदर्श अवधारणा को पूर्ण रूप से मध्य प्रदेश में लागू करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। राज्य सरकार महत्वपूर्ण निर्णय लेते समय भारत सरकार से मार्गदर्शन प्राप्त करती रहेगी और सुशासन के पथ पर चलते हुए प्रदेश की 8.5 करोड़ जनता की बेहतरी के लिए हमेशा काम करेगी। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने ये विचार आज नई दिल्ली के आईटीसी मौर्य में आयोजित एक न्यूज चैनल के कार्यक्रम में व्यक्त किए।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने बताया कि प्रशासनिक गुणवत्ता सुधारने की दृष्टि से हाल ही में प्रदेश के मंत्रिमंडल का दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया। इससे शासन की कार्यप्रणाली में जवाबदेहिता और पारदर्शिता बढ़ेगी। सुशासन व्यवस्था में कानून का सही तरह से पालन करवाना भी सरकार की जिम्मेदारी है। इसी अनुक्रम में सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के परिपालन में प्रदेश में लाउडस्पीकर के उपयोग को नियंत्रित किया गया जा रहा है। खाद्य सुरक्षा कानून के अनुसार खुले में खाद्य पदार्थ विक्रय की मनाहीं है। इसी कानून के पालन में प्रदेश में खुले में मांस, मछली इत्यादि का विक्रय प्रतिबंधित किया गया है। प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में सुशासन के संबंध में मिलने वाले सभी निर्देशों का राज्य सरकार अक्षरशः पालन करेगी। राज्य सरकार प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा बताई गई चार जातियों- गरीब, युवा, किसान और महिलाओं के विकास और कल्याण के लिए कृतसंकल्पित है।
प्रदेश में विकास की अपार संभावनाएं हैं। मध्यप्रदेश नई शिक्षा व्यवस्था को लागू करने, सकल पंजीयन दर बढ़ाने और खनिज क्षेत्र में देश में अव्वल रहा है। राज्य सरकार रोजगार, शिक्षा, खनिज, वनांचल जैसे क्षेत्रों में जनता की बेहतरी के लिए आगामी वर्षों में भी प्रतिबद्धतापूर्वक कार्य करेगी।


एनसीसी भाग्य को सौभाग्य में बदलने का मार्ग प्रशस्त करती है - मुख्यमंत्री डॉ. यादव

03 Feb 2024
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा है कि मानव जीवन भाग्य से मिलता है और भाग्य को सौभाग्य में बदलने का रास्ता एनसीसी से प्राप्त होता है। भारत एक बड़ी आबादी वाला देश है। इसमें जल, वायु, थल सेना की संख्या मात्र साढ़े तेरह लाख है और इन साढ़े तेरह लाख जवानों पर पूरा देश अपनी सुरक्षा का विश्वास करता है। हमारी सेना हर चुनौती का सामना करने में सक्षम है। सेना की इस गौरवशाली परम्परा से जुड़ने का मार्ग एनसीसी से निकलता है। मुख्यमंत्री डॉ. यादव नई दिल्ली में आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह 2024 के अवसर पर लगे कैम्प में शामिल हुए राष्ट्रीय कैडेट्स कोर के मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ निदेशालय के प्रतिभागियों को आज मुख्यमंत्री निवास परिसर में संबोधित कर रहे थे। डॉ. यादव ने कहा कि घुड़सवारी में 6 पदक जीतना महत्वपूर्ण उपलब्धि है। मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के कैडेट्स द्वारा अर्जित की गईं उपलब्धियाँ सराहनीय हैं। सभी कैडेट्स बधाई के पात्र हैं। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने उपलब्धियां प्राप्त करने वाले कैडेट्स को सम्मानित भी किया। राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर के आयोजनों में श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले कैडेट्स को मुख्यमंत्री डॉ. यादव द्वारा 6 लाख 25 हजार रूपए के पुरस्कार के रूप में चैक भी प्रदान किए गए।

एनसीसी का ध्येय वाक्य एकता, अनुशासन और संगठन के प्रति समर्पण है

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि एनसीसी के कार्यक्रम में भाग लेना अपने परिवार में आने के समान है। मैं स्वयं शाला स्तर पर एनसीसी का सक्रिय कैडेट रहा हूँ। कैडेट्स द्वारा अर्जित की गईं उपलब्धियाँ उनकी प्रतिबद्धता की परिचायक हैं। मुझे विश्वास है कि कैडेट्स अगले वर्ष प्रथम स्थान का लक्ष्य रखकर परिश्रम के साथ निरंतर प्रयास करेंगे। एनसीसी का ध्येय वाक्य एकता, अनुशासन और संगठन के प्रति समर्पण है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में इन उद्देश्यों के साथ कार्य करना हम सबको गौरव और आत्म-सम्मान प्रदान करता है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने दीपावली का पर्व सीमा पर खड़े सेना के जवानों के साथ मनाकर अद्भुत आदर्श प्रस्तुत किया है।

गणतंत्र दिवस का एनसीसी कैम्प जीवनभर याद रहता है

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि भारत विश्व का सबसे युवा देश है। हमें आगे कई लक्ष्य प्राप्त करने हैं। एनसीसी के माध्यम से देश के सभी युवा प्रेरणा पाएं। गणतंत्र दिवस शिविर के दौरान 28 राज्यों और 8 केन्द्र शासित प्रदेशों के कैडेट्स के साथ बिताया समय जीवनभर की यादों की धरोहर बनता है। अलग भाषा, अलग प्रदेश फिर भी अपना एक देश, इस भिन्नता के बाद भी देश की एकता और आत्मीयता का अनुभव ऐसे शिविरों में ही होता है।

मानवता मूल्यों की स्थापना में देश की विशिष्ट पहचान है

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि विश्व में मानवता के मूल्यों की स्थापना करने में हमारे देश की विशिष्ट पहचान है। हम वसुधैव कुटुम्बकम के विचार को मानकर पूरे विश्व को अपना परिवार मानते हैं। स्वामी विवेकानंद ने कहा था 21वीं शताब्दी भारत की होगी और वर्तमान में भारतीय, विभिन्न क्षेत्रों में प्राप्त उपलब्धियों से विश्व को हमारे देश की प्रतिभा और सक्षमता का परिचय करा रहे हैं।

युवा पीढ़ी और एनसीसी जैसे संगठनों के बल पर देश निरंतर प्रगति करेगा

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है, इस नाते बहुत सी चुनौतियां भी विद्यमान हैं। युवा पीढ़ी और एनसीसी जैसे संगठनों के बल पर देश निरंतर प्रगति करेगा। एनसीसी में मिलने वाला प्रशिक्षण कैडेट्स की सफलता का आधार होगा।

मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने सीएम बैनर 2023-24 के विजेता भोपाल समूह को किया सम्मानित

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) सीएम बैनर 2023-24 के विजेता 'भोपाल समूह' को सीएम बैनर से सम्मानित किया। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ निदेशालय के अंतर्गत 6 ग्रुप भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर, सागर और रायपुर शामिल हैं। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय आयोजनों में प्रतिष्ठित पुरस्कार प्राप्त करने वाले कैडेट्स को सम्मानित भी किया। मुख्यमंत्री डॉ. यादव को स्मृति चिन्ह भेंट किया गया।

एनसीसी कैडेट्स ने दीं सांस्कृतिक प्रस्तुतियां

कार्यक्रम में स्कूल शिक्षा तथा परिवहन मंत्री श्री उदय प्रताप सिंह उपस्थित थे। मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ निदेशालय के अपर महानिदेशक मेजर जनरल अजय कुमार महाजन ने मध्य प्रदेश छत्तीसगढ निदेशालय की उपलब्धियों और एनसीसी अंतर ग्रुप सीएम बैनर 2023-24 में भोपाल ग्रुप के प्रथम स्थान प्राप्त करने के लिए अर्जित उपलब्धियों की जानकारी दी। कार्यक्रम में एनसीसी के कैडेट्स ने गणगौर नृत्य, समूह गीत प्रस्तुत किए तथा अपने अनुभव भी सुनाए।


प्रदेश में नगर निगमों सहित स्थानीय निकायों को और अधिक अधिकार संपन्न बनाया जायेगा - मुख्यमंत्री डॉ. यादव

02 Feb 2024
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा है कि प्रदेश में नगर निगमों सहित अन्य स्थानीय निकायों को और अधिक अधिकार संपन्न बनाया जायेगा। इससे विकास को नई गति और नई दिशा मिलेगी। उन्होंने कहा कि स्थानीय निकायों को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के भी प्रयास किये जाएंगे। मुख्यमंत्री डॉ. यादव इंदौर नगर निगम के निर्माणाधीन भवन के कार्य को पूर्ण करने के लिये 50 करोड़ रूपये देने की घोषणा की।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव शुक्रवार को इंदौर नगर निगम के नवनिर्मित परिषद सभागृह के शुभारंभ कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट तथा पूर्व महापौर श्री कृष्णमुरारी मोघे भी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि इंदौर शहरवासियों का सौभाग्य है कि उनका शहर दो ज्योर्तिलिंगों के मध्य स्थित है। इंदौर में अहिल्या माता जैसी कुशल एवं कर्मठ प्रशासक रही हैं। उन्होंने इंदौर के विकास में अहिल्या माता तथा होल्कर वंश द्वारा दिये गये योगदान का उल्लेख भी किया। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि अहिल्या माता का इंदौर के विकास में विशेष योगदान है। माता अहिल्या अन्य शहरों और धर्मस्थलों में भी विशेष विकास कार्य करवाये हैं। हमें इनसे प्रेरणा लेना चाहिये। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि इंदौर नगर निगम के नवनिर्मित परिषद सभागृह का नाम पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्व.श्री अटलबिहारी वाजपेयी के नाम पर रखना गौरव की बात है। स्व. श्री वाजपेयी ने लोकतांत्रिक व्यवस्था को गौरवान्वित किया तथा उच्च आदर्श स्थापित किये। हमें उनसे प्रेरणा लेना चाहिए। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि मध्यप्रदेश को देश का नंबर एक राज्य बनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि विकास में स्थानीय निकायों की अहम भूमिका है।
कार्यक्रम में नगरीय विकास मंत्री श्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि इंदौर में नगर निगम द्वारा अत्याधुनिक सुर्वसुविधायुक्त सुंदर सदन का निर्माण किया गया है। उन्होंने कहा कि सदन में सकारात्मक चर्चा हो। सभी जनप्रतिनिधि पूर्ण अध्ययन के साथ चर्चा में भाग ले। तथ्यों के साथ अपनी बात को रखें। पार्षदों को अध्ययनशील बनना चाहिये। पार्षद, विधायिका की पहली सीढ़ी है। उन्होंने सभी जनप्रतिनिधियों से कहा कि वे पदों का निर्वहन पूर्ण ईमानदारी एवं मेहनत के साथ जनता के हित में करें। सुंदर सदन में शहर की सुंदरता के काम हो, यह सुनिश्चित किया जाये।
स्वागत उद्बोधन में इंदौर के महापौर श्री पुष्यमित्र भार्गव ने कहा कि इंदौर शहर को तेज गति से विकसित किया जा रहा है। शहर को सोलर सिटी एवं डिजिटल सिटी के रूप में विकसित करने के नवाचार भी शुरू किये गये हैं। उन्होंने कहा कि सदन में संसदीय मर्यादाओं का पूरा पालन किया जायेगा। प्रयास किये जाएंगे कि सदन में लोकतांत्रिक मूल्यों की नई गाथा लिखी जाये।
कार्यक्रम में इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री जयपाल सिंह चावड़ा, युवा आयोग के अध्यक्ष श्री निशांत खरे, विधायक श्री महेन्द्र हार्डिया, श्रीमती मालिनी गौड़, श्री रमेश मेंदोला, श्री मधु वर्मा तथा श्री गोलू शुक्ला, श्री सत्यनारायण सत्तन, श्री गौरव रणदीवे, पूर्व विधायक श्री सुदर्शन गुप्ता, श्री जीतू जिराती तथा श्री गोपीकृष्ण नेमा, श्री सुरजीत सिंह चड्डा, नगर निगम में विपक्ष के नेता श्री चिंटू चौकसे सहित अन्य पार्षद, पूर्व पार्षद आदि मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन श्री कमल वाघेला ने किया। अंत में नगर निगम के सभापति श्री मुन्नालाल यादव ने आभार व्यक्त किया।



प्रदेश में तुअर उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा : मुख्यमंत्री डॉ.यादव

02 Feb 2024
भोपाल।मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव से भारत सरकार के कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय के कृषि लागत एवं मूल्य आयोग (सीएसीपी) के प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री निवास के समत्व भवन में सौजन्य भेंट की। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा है कि मध्यप्रदेश में तुअर के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि भारत सरकार का प्रोत्साहन मिलने से प्रदेश में दलहन और तिलहन फसलों के उत्पादन में वृद्धि हो सकेगी।
प्रतिनिधि मंडल में भारत सरकार के कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय के कृषि लागत एवं मूल्य आयोग (सीएसीपी) के अध्यक्ष प्रो. विजय पॉल शर्मा तथा आयोग के सदस्य डॉ. नवीन पी सिंह, श्री अनुपम मित्रा और श्री रतन लाल डागा शामिल थे। इस अवसर पर किसान कल्याण एवं कृषि विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री अशोक वर्णवाल तथा वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


शिक्षण संस्थाएँ राष्ट्र के प्रति अपने उत्तरदायित्वों का निर्वहन करने वाली पीढ़ी का निर्माण करें - राज्यपाल श्री पटेल

02 Feb 2024
भोपाल।राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा कि प्रदेश की सभी शिक्षण संस्थाओं का यह दायित्व है कि वह ऐसी पीढ़ी का निर्माण करे, जो राष्ट्र के प्रति सजग रहे, अपने उत्तरदायित्वों का निर्वहन करे, वंचितों के लिये कार्य करके देश एवं समाज में आमूलचूल परिवर्तन लाये। विकसित भारत के निर्माण के लिये यह आवश्यक है कि नई शिक्षा नीति ऐसी हो, जिसमें युवाओं का स्किल डेवलपमेंट हो। उन्हें रोजगार के विभिन्न अवसर प्राप्त हो। विद्यार्थी अपनी पसन्द के क्षेत्र में ज्ञान अर्जित कर सकें। राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 में कला, विज्ञान, प्रौद्योगिकी, डिजिटल टेक्नालॉजी, संस्कृति आदि को शामिल किया गया है, जो युवाओं के लिये अनन्त संभावनाओं के द्वार खोलता है। उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थाएं हमेशा नये विचारों, नई प्रेरणाओं, नये प्रयोगों को शामिल करें। राज्यपाल श्री पटेल उज्जैन में विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के क्रियान्वयन पर आयोजित सेंट्रल झोन वाईस चांसलर कॉन्फ्रेंस में शामिल हुए।
राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि एक कुलपति के पास लगभग एक हजार विद्यार्थी आते हैं। कुलपतियों का यह दायित्व है कि वे उनके बौद्धिक ज्ञान को सही मार्गदर्शन प्रदान करे। उन्होंने कहा कि मैं जब भी किसी दीक्षान्त समारोह में जाता हूं तो विद्यार्थियों को उपाधि प्रदान करता हूं। उपाधि मिलने के बाद विद्यार्थी को नौकरी मिलती है। उसकी शादी भी हो जाती है, लेकिन मैं आजकल यह देखता हूं कि उच्च शिक्षित डिग्रीधारी युवक अपने माता-पिता का तिरस्कार करता है। उन्हें अकेला छोड़ देता है। यह प्रवृत्ति ठीक नहीं है। लोग अपने घरों के नाम मातृछाया एवं पितृछाया रखते हैं, लेकिन न माता का, न पिता का सम्मान करते हैं तो मुझे समझ में यह नहीं आता है कि उनके शिक्षित होने का क्या फायदा। राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि सभी विद्यार्थी अपने माता-पिता द्वारा उन्हें पढ़ाने एवं बड़ा करने में उठाये गये कष्टों को न भूलें। यदि विद्यार्थी अपने माता-पिता की सेवा करता है तो यह मान लीजिये कि वह राष्ट्र के प्रति भी अपने उत्तरदायित्वों का निर्वहन करेगा। ऐसे व्यक्ति का जीवन सफल रहता है।
सेंट्रल झोन वाईस चांसलर कॉन्फ्रेंस में उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ एवं उत्तराखण्ड के 270 से अधिक शासकीय एवं अशासकीय विश्वविद्यालयों के कुलपति, शिक्षाविद, प्राध्यापक शामिल हुए। कॉन्फ्रेंस में राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के क्रियान्वयन की समीक्षा और चुनौतियों पर चर्चा हुई।
यूजीसी के चेयरमेन एम.जगदीश कुमार ने बताया कि नई शिक्षा नीति-2020 से भारतीय शिक्षा प्रणाली में परिवर्तनकारी बदलाव आ रहे हैं। विभिन्न हितधारकों के बीच नीति के विवरणों को प्रसारित करने और उच्चतर शैक्षणिक संस्थानों ने इसका क्रियान्वयन सुनिश्चित करने के लिये हरसंभव प्रयास किये जा रहे हैं। यूजीसी के द्वारा राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के विभिन्न प्रावधानों के बारे में क्षेत्र के प्रबंधन, शैक्षणिक, प्रशासनिक सदस्यों और अन्य हितधारकों के सन्दर्भ में जानकारी को सुगम बनाया जा रहा है। विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रमों में क्रेडिट फ्रेमवर्क, एकसाथ दो अकादमिक कार्यक्रमों की पढ़ाई करना, दोहरी शिक्षा व्यवस्था, दोहरी डिग्री कार्यक्रम प्रदान करना और भारतीय और विदेशी उच्चतर शिक्षण संस्थानों के बीच शैक्षणिक सहयोग कार्यक्रम शामिल है।
विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति श्री अखिलेश कुमार पाण्डे ने विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा किये जा रहे कार्यों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि विश्वविद्यालय में 280 कोर्स वर्तमान में संचालित किये जा रहे हैं। बहुउद्देशीय अनुसंधान, फॉरेंसिक साइंस, डिजिटल टेक्नालॉजी के पाठ्यक्रम भी इसमें शामिल हैं। विश्वविद्यालय का उद्देश्य है कि विद्यार्थियोयं में स्कील डेवलपमेंट विकसित हो एवं वे रोजगारोन्मुखी पाठ्यक्रम लेकर रोजगार प्राप्त करें। उन्होंने बताया कि कम्प्यूटर साइंस एवं बीएससी के बच्चों ने विभिन्न मॉडल भी डेवलप किये हैं। पर्यावरण एवं शोध के क्षेत्र में भी कार्य किये जा रहे हैं। वर्तमान में 35 मॉडल पेटेंट हुए हैं। उन्होंने बताया कि पाठ्यक्रमों में गीता के विभिन्न आयामों को भी शामिल किया गया है। विश्वविद्यालय में 25 राज्यों के बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सेंट्रल झोन वाईस चांसलर कॉन्फ्रेंस से शोध एवं अभ्यास में मदद मिलेगी और शिक्षा के क्षेत्र में नये आयाम खुलेंगे।
इसके पूर्व राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के विजन से सम्बन्धित लघु फिल्म का प्रदर्शन भी किया गया। कार्यक्रम का संचालन कुलानुशासक श्री शैलेंद्र कुमार शर्मा एवं आभार प्रदर्शन कुल सचिव श्री अनिल शर्मा ने किया। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के प्रोफेसरगण, विद्यार्थी उपस्थित थे।



वैश्विक कृषि-निर्यात बाजार में मध्य प्रदेश का उदय

02 Feb 2024
भोपाल।मध्यप्रदेश ने तेजी से वैश्विक कृषि निर्यात बाजार में अपना स्थान बना लिया है। प्रदेश के बुरहानपुर जिले से इराक, ईरान, दुबई, बहरीन और तुर्की को सालाना 30 हजार मीट्रिक टन केले का निर्यात हो रहा है। बुरहानपुर केले की प्रसिद्धि दूर-दूर तक पंहुच गई है। केला उत्पादक किसानों की मेहनत और सरकार की मदद ने बुरहानपुर को एक नई पहचान दिलाई है। लगभग 19000 केला उत्पादक किसान 23,650 एकड़ क्षेत्र में केले की फसल ले रहे हैं। इसमें बुरहानपुर से ही सालाना औसत 16.54 लाख मीट्रिक टन का उत्पादन होता है। एक जिला-एक उत्पाद योजना में केले को शामिल करने के बाद केला उत्पादक किसानों ने उत्साहपूर्वक निर्यात अवसरों का भरपूर लाभ उठाया है।
कृषि निर्यात बाजार में किसानों की गहरी रुचि, कृषि व्यापार के मज़बूत बुनियादी ढांचे और निर्यात कंपनियों की अच्छी उपस्थिति के कारण बुरहानपुर केले को अच्छा घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय बाजार मिल गया है। यहां मुख्य रूप से जी-9, बसराई, हर्षाली, श्रीमंथी किस्में उगाई जा रही हैं। प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण उद्यम योजना में केला उत्पादन और प्रसंस्करण को बढ़ावा मिल रहा है। परिणामस्वरुप बुरहानपुर में 30 केला चिप्स प्रसंस्करण इकाइयाँ स्थापित हैं। कुछ इकाईयाँ केले का पाउडर भी बना रही हैं और मार्केट की तलाश में है।
बुरहानपुर के प्रवीण पाटिल अच्छे मुनाफे से खुश हैं। उनके पास दापोरा गांव में 60 एकड़ जमीन है, जो बुरहानपुर जिला मुख्यालय से 16 किमी दूर है। दापोरा एक ग्राम पंचायत है जिसमें लगभग 700 घर हैं। उन्होंने केले की खेती का गुर अपने पिता और दादा से सीखा।
प्रवीण बताते हैं कि पिछले दो सीजन में बाजार भाव अच्छा रहा। बाजार की मांग के अनुसार 2,000 से 2,500 प्रति क्विंटल तक केला बिका। हर सीजन अच्छा नहीं रहता। कई बार मांग और आपूर्ति में भारी अंतर होता है।
खेती की लागत के बारे में प्रवीण बताते हैं कि यह लगभग प्रति पौधा 140 रु. तक आती है। वे बताते हैं कि 300 से 500 पौधे लगाते हैं। सब कुछ ठीक रहा तो 450 से 500 क्विंटल तक उत्पादन होता है। अत्यधिक वर्षा, मौसम और खेतों में पानी का भराव केले के पौधों को नुकसान पहुंचाता है, जो कक्यूम्बर मोज़ेइक वायरस - सीएमवी का शिकार हो जाते हैं। वे कहते हैं कि वायरस लगे पौधों को नष्ट करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचता।
प्रवीण 15 सदस्यों के संयुक्त परिवार में सबसे बड़े हैं। दो छोटे भाई साथ रहते हैं। बड़ा बेटा रोहल पाटिल इंदौर की एक निजी यूनिवर्सिटी में मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा है. छोटा बेटा श्वेतल पाटिल इसी यूनिवर्सिटी में कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई कर रहा है। दोनों छुट्टी के दौरान कभी-कभी खेती की गतिविधियों में सहयोग कर देते हैं।
प्रवीण आगे बताते हैँ कि बुरहानपुर केले का घरेलू बाजार अच्छा है। हमारा केला नई दिल्ली और हरियाणा तक जाता है। मैं उन लोगों के संपर्क में भी रहता हूं जो कृषि निर्यात करते हैं।
बुरहानपुर से 19 किमी दूर इच्छापुर गांव है जहां केले की खेती करने वाले किसानों की संख्या काफी है। अधिकतर किसान पारंपरिक खेती करते हैं। यहां के 37 वर्षीय किसान राहुल चौहान के पास 25 एकड़ जमीन है। वे बचपन से ही केले की खेती के तौर तरीकों से परिचित हो गये थे। वे 17 सदस्यों के संयुक्त परिवार में रहते हैं। वह चार भाइयों में सबसे बड़े हैं। उनका बेटा विश्वनाथ प्रताप सिंह चौहान दूसरी कक्षा में पढ़ता है जबकि बेटी प्रिया छठी कक्षा में है। उनके पास एक ट्यूबवेल और एक पारंपरिक कुआं है। वे खेती का अर्थशास्त्र अच्छी तरह जानते हैं। लाभ और हानि के बारे में विस्तार से समझाते हुए वे कहते हैं कि यह सब मौसम और बाजार के व्यवहार पर निर्भर करता है।
कई बार बाजार भाव अच्छे होते हैं लेकिन फसल अच्छी नहीं होती। कभी फसल अच्छी होती है लेकिन भाव नहीं मिल पाते। वे वायरस हमले के प्रति भी चिंतित रहते हैं और बताते हैं कि सीएमवी वायरस स्वस्थ केले के पौधे के लिए एकमात्र खतरा है। उनका कहना है कि अगर पूर्ण विकसित पौधों में सीएमवी हो तो हमें उन्हें जड़ से उखाड़ना होता है।
राहुल बताते हैं कि वे दिन गए जब पूर्वजों का मानना ​​था कि ज्यादा पौधे ज्यादा उपज देंगे। हम 8x5 फीट जगह में पौधे लगा रहे हैं। प्रति एकड़ 1,200 पौधे लगाते हैं। पहले 1,800 पौधे प्रति एकड़ लगा रहे थे। प्रति पौधे की लागत लगभग 150 रुपये तक आती है। एक एकड़ में 1.5 लाख का शुद्ध मुनाफा हो जाता है। एक सीजन का लाभ 25 लाख रुपये तक पहुंच जाता है। इसमें खेती की लागत भी शामिल है।
राहुल आगे बताते हैं कि एक एकड़ खेती की लागत लगभग रु. 70 हजार तक आ जाती है। एक विकसित पौधा 15 किलोग्राम से 20 किलोग्राम तक के गुच्छे देता है। यदि अच्छी तरह से देखभाल हो जाए तो प्रति गुच्छा 30 से 35 किलोग्राम तक पहुंच जाता है। उनका मानना ​​है कि केला उत्पादकों के हित में मंडी प्रणाली की कार्यप्रणाली में और सुधार करने की जरूरत है। उपज बेचने में प्रक्रिया में देरी से अच्छे मुनाफे की संभावनाएं प्रभावित होती हैं।
जिला मुख्यालय से 11 किमी दूर शाहपुर गांव के राजेंद्र चौधरी जैसे छोटे किसान भी बहुत संख्या में हैं। उनके पास चार एकड़ जमीन है जिस पर वह 5000 पौधे लगाते हैं। वे औसतन 5 लाख रूपये कमा लेते हैं। उनका कहना है कि पिछले दो-तीन सीजन में बाजार किसानों के लिए बेहद अनुकूल रहा है। उनका बेटा मोहित चौधरी एक स्थानीय प्रबंधन कॉलेज से एमबीए कर रहा है, जबकि छोटे बेटे अनिकेत ने पास के खकनार सरकारी पॉलिटेक्निक से फिटर ट्रेड में डिप्लोमा किया है।
केले के उत्पादन ने केला चिप्स प्रसंस्करण इकाइयों को जन्म दिया है। फिलहाल बुरहानपुर में ऐसी 30 इकाइयां हैं। योगेश महाजन केले के चिप्स बनाने की इकाई मारुति चिप्स चलाते हैं। उनका सालाना टर्नओवर 20 से 25 लाख रुपए है। उनका कहना है कि केले की आसान उपलब्धता और लगातार आपूर्ति ने उन्हें चिप्स बनाने की इकाई खोलने के लिए प्रेरित किया। वे किसानों से सीधी खरीद करते हैं। खरीद दर फसल की आवक के अनुसार बदलती रहती है। खेतों से सीधे खरीद की दर 5 रुपये प्रति किलोग्राम है। प्रोसेसिंग के बाद एक किलो चिप्स के पैक की थोक दर 150 रुपये है जबकि बाजार में खुदरा कीमत 200 रूपये प्रति किलो है। बाजार के बारे में उनका कहना है कि केला चिप्स अपनी गुणवत्ता के कारण पसंद किये जाते हैं। चिप्स की गुणवत्ता स्वच्छता, तलने की तकनीक, गुणवत्तापूर्ण खाद्य तेल का उपयोग, कुरकुरेपन पर निर्भर करती है। उनका कहना है कि चिप्स बनाने के काम में जरूरतमंद स्थानीय महिलाओं को लगाया जाता है।प्रशिक्षण के बाद वे अब कुशल हो गई हैं।राहुल बताते हैं कि उनके पास अच्छा ग्राहक आधार है और भोपाल जैसे महानगरों में कुछ आउटलेट भी हैं। बुरहानपुर केले के चिप्स अब अपनी पहचान बन चुके है। उनका कहना है कि केला उत्पादक किसानों को अच्छा मुनाफा मिलना चाहिए। इससे हमारी चिप्स इकाइयां भी अच्छे से चल चलेंगी। हाल ही में जब बुरहानपुर को राष्ट्रीय स्तर पर एक जिला-एक उत्पाद पुरस्कार-2023 में स्पेशल मेंशन श्रेणी का पुरस्कार मिला तो गोकुल चौधरी, तुषार पाटिल जैसे केला उत्पादक किसान दिल खोलकर खुश हुए।



मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना का प्रदेश स्तरीय विशाल सम्मेलन इंदौर में आयोजित

10 July 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना का प्रदेश स्तरीय विशाल सम्मेलन आज इंदौर में आयोजित किया जाएगा। सम्मेलन में दौरान लाड़ली बहना योजना की हितग्राही बहनों को योजना के तहत दूसरी किस्त जारी की जाएगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सिंगल क्लिक के माध्यम से प्रदेश की 1 करोड़ 25 लाख से अधिक बहनों को राशि सीधे खातों में अंतरित करेंगे। सुपर कॉरिडोर पर आयोजित इस कार्यक्रम में जिलें की 11 हजार लाड़ली बहनें लाठी के साथ अपने सशक्तिकरण का प्रदर्शन करेंगी। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री लाड़ली बहना सेना के सदस्यों को शपथ भी दिलाएंगे। सम्मेलन में महिला स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की जीवन गाथा को प्रदर्शनी के माध्यम से प्रस्तुत किया जाएगा। जनजातीय और लोकनृत्य रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आकर्षण का केंद्र रहेंगे। लाड़ली बहने पिंक साइकिल रैली के माध्यम से मुख्यमंत्री के प्रति आभार प्रकट करेंगी।



मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दिव्यांगजन से कहा- आप अकेले नहीं हो, मामा आपके साथ है

9 July 2023
मुख्यमंत्री भैरून्दा में दिव्यांगजन को सहायक उपकरण वितरण के कार्यक्रम में शामिल हुए
209 दिव्यांगजन को 316 सहायक उपकरण नि:शुल्क वितरित

भोपाल।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि दिव्यांगजन भले शारीरिक रूप से कमजोर होते हैं लेकिन वे मन से बहुत मजबूत होते हैं। शरीर का कोई अंग कमजोर हो सकता है, लेकिन व्यक्ति को मानसिक रूप से मजबूत होना चाहिए। उन्होंने दिव्यांगों से कहा कि आप अकेले नहीं हैं आपका मामा आपके साथ हैं। जनता की सेवा ही भगवान की पूजा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान भैरून्दा के कृषक संगोष्ठी भवन में दिव्यांग हितग्राहियों को सहायक उपकरण वितरण शिविर में आए हितग्राहियों एवं नागरिकों को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पुष्प-वर्षा कर दिव्यांगजन का स्वागत और अभिनंदन किया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सभी दिव्यांग का डाटा एकत्र कर सितंबर माह तक विशेष शिविर लगाये जायेंगे और क्षेत्र के सभी दिव्यांग को सहायक उपकरणों का वितरण किया जाएगा। गत दिवस भैरून्दा में दिव्यांगजन के चिन्हांकन के लिए एक विशेष शिविर लगाया गया था, जिसमें मेडिकल बोर्ड द्वारा 727 दिव्यांग का परीक्षण कर प्रमाण-पत्र दिये गये। इस दौरान 194 दिव्यांग का इलाज भी करवाया गया और अनेक दिव्यांग को सहायक उपकरण वितरण के लिए चिन्हांकित किया गया था।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज भैरूंदा में हुए नि:शुल्क सहायक उपकरण वितरण कार्यक्रम में 209 दिव्यांग हितग्राहियों को 23 लाख 90 हज़ार रूपए के 316 सहायक उपकरण प्रदान किए गए हैं। इसमें 21 दिव्यांगों को मोटराइज्ड ट्रायसायकल, 32 को ट्रायसायकल, 52 को व्हीलचेयर, 32 को एल्बो क्रच, 70 को बैसाखी, 31 को वर्किंग स्टिक, 5 को ब्लाइंड केन, 7 को रोलेटर, 3 को सेलफोन, 3 को एडीएल किट, 5 को स्मार्टफोन, 4 को सीपी चेयर, 50 को श्रवण यंत्र डिजिटल तथा एक दिव्यांग हितग्राही को ब्रेल किट का वितरण किया गया है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह, सांसद श्री रमाकांत भार्गव, श्री गुरू प्रसाद शर्मा, श्री रघुनाथ भाटी, भाजपा जिला अध्यक्ष श्री रवि मालवीय, अनुसूचित जनजाति वित्त निगम की अध्यक्ष श्रीमती निर्मला बारेला, नगर परिषद अध्यक्ष श्री मारूति शिशिर सहित अनेक जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


बेटे-बेटी के अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलने के लिए हर सुविधा दूँगा:मुख्यमंत्री श्री चौहान

9 July 2023
खूब पढ़ो, आगे बड़ो, मामा आपके साथ है
मुख्यमंत्री श्री चौहान भैरूंदा में प्रेम सुंदर स्मृति कबड्डी टूर्नामेंट-2023 में शामिल हुए

भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि बेटा-बेटियों के जीवन में हमेशा खुशियाँ और चेहरे पर मुस्कान रहे। क्षेत्र के बेटा-बेटी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जाकर खेलें, इसके लिए मैं हर सुविधा दूँगा। पूरा माइक्रो प्लान तैयार किया जाएगा, जिससे हर विधा में हमारे क्षेत्र के बच्चे हर खेल में आगे बढ़े। खेल ही जीवन का अभिन्न अंग है। उन्होंने कहा कि मैं अपने बेटे-बेटियों के सपनों को पूरा करुँगा। खूब पढ़ो, आगे बढ़ो, मामा आपके साथ हैं। बेटा-बेटियों के लिए तीन चीजें आवश्यक है खेल, शिक्षा और रोजगार। युवाओं के आनंद और प्रसन्नता के लिए खेल जरूरी है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान भैरूंदा में प्रेम सुंदर स्मृति कबड्डी टूर्नामेंट-2023 के समापन पर खिलाड़ियों, युवाओं और गणमान्य नागरिकों को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने सपरिवार कबड्डी टूर्नामेंट का आनंद लिया और खिलाड़ियों का मनोबल बढ़ाया। कबड्डी महाकुंभ में विधानसभा क्षेत्र की 226 टीमों ने भाग लिया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रथम, द्वितीय पुरस्कार के अलावा सभी प्रतिभागी टीमों को पहले दिये जाने वाले 5000 रूपए के पुरस्कार को बढ़ाकर अब 11000 रुपए का पुरस्कार दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि खेल के साथ-साथ बेहतर शिक्षा भी जरूरी है। इसलिए सीएम राइस स्कूल खोले गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कक्षा 12वीं में 70 प्रतिशत लाने वाले विद्यार्थियों को प्रोत्साहन स्वरूप 25 हजार रूपए दिए जाएंगे। जिन बच्चों ने हायर सेकेंडरी परीक्षा में अपने-अपने स्कूलों में सबसे ज्यादा अंक हासिल किए हैं, उन्हें स्कूटी दी जाएगी। पढ़ाई के लिए अपने गाँव से दूसरे गाँव जाने वाले पाँचवीं कक्षा उत्तीर्ण कर छठवीं के विद्यार्थियों एवं आठवीं पास कर 9वीं में आए विद्यार्थियों के खाते में 4500 रूपए की राशि डाली जाएगी। साथ ही 12वीं में 60 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाली बेटियों को प्रोत्साहन स्वरूप 5000 रूपए अलग से प्रदान किए जाएंगे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मेडिकल तथा इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों को नि:शुल्क कोचिंग दिलायी जाएगी। साथ ही बेटा-बेटियों को उच्च शिक्षा में कोई समस्या नहीं आए, इस उद्देश्य से प्रदेश सरकार द्वारा मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेजों तथा उच्च शिक्षण संस्थाओं में एडमिशन होने पर पूरी फीस भरी जाएगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि रोजगार के लिए एक लाख से ज्यादा सरकारी भर्तियाँ 15 अगस्त तक पूरी हो जाएंगी। इसके बाद 50 हजार भर्तियाँ फिर से निकाली जाएंगी। बेटा-बेटी प्रतियोगी परीक्षाओं की बेहतर तरीके से तैयारी कर सकें, इसके लिए मामा कोचिंग क्लासेस निरंतर संचालित की जा रही हैं। साथ ही स्व-रोजगार के लिए युवाओं को मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना में 50 लाख रूपए तक का ऋण स्वीकृत किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना में विभिन्न क्षेत्रों में काम सीखने वाले युवाओं को प्रशिक्षण के साथ-साथ 8 से 10 हजार रुपए का स्टायपेंड दिया जाएगा। इसके लिए बनाये गये पोर्टल पर काम सीखने के इच्छुक युवाओं और काम सिखाने वाली संस्थाओं का पंजीयन हो रहा है। कार्यक्रम को श्री कार्तिकेय चौहान ने भी संबोधित किया।

प्रारंभ में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त कर उन्हें आशीर्वाद दिया। मुख्यमंत्री श्री चौहान की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह, सांसद श्री रमाकान्त भार्गव, अन्य जन-प्रतिनिधि, खिलाड़ी और बड़ी संख्या में खेल प्रेमी उपस्थित थे।


महिलाओं, युवाओं, किसानों के जीवन में खुशहाली लाना हमारा मकसद – मुख्यमंत्री श्री चौहान

8 July 2023
15 अगस्त तक एक लाख सरकारी पदों पर हो जायेगी भर्ती
21 वर्ष की बहनों और ट्रेक्टर वाले परिवार को भी लाड़ली बहना योजना में भी शामिल किया जायेगा
134 करोड़ से अधिक के निर्माण कार्यों का लोकार्पण एवं भूमि-पूजन
गुना जिले के राघौगढ़ में हुआ मुख्यमंत्री लाड़ली बहना सम्मेलन
मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं केन्द्रीय मंत्री श्री सिंधिया ने दी सौगातें

भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महिलाओं, युवाओं और किसानों के जीवन में खुशहाली लाना ही हमारा मकसद है। लाड़ली बहना योजना में धीर-धीरे बहनों को एक हजार रूपए से बढ़ाकर तीन हजार रूपए तक की राशि हर माह उपलब्ध कराई जायेगी। प्रदेश में 15 अगस्त तक एक लाख लोगों को शासकीय नौकरी में भर्ती किया जायेगा। इसके बाद और 50 हजार युवाओं को शासकीय नौकरी उपलब्ध कराई जायेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शनिवार को गुना जिले के राघौगढ़ में मुख्यमंत्री लाड़ली बहना सम्मेलन में यह बात कही। कार्यक्रम में केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, प्रदेश के ऊर्जा मंत्री एवं गुना जिले के प्रभारी मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया, सहित जन-प्रतिनिधि और बड़ी संख्या में लाड़ली बहनें शामिल हुईं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं केन्द्रीय मंत्री श्री सिंधिया की उपस्थिति में 134 करोड़ 12 लाख के विकास कार्यों का ई-लोकार्पण एवं भूमि-पूजन किया गया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रत्येक माह की 10 तारीख को लाड़ली बहनों के खाते में पैसे डालने का कार्य सरकार कर रही है। आने वाली 10 तारीख को पुन: बहनों के खाते में राशि डाली जाएगी। प्रतिवर्ष सरकार 15 हजार करोड़ रूपए की राशि बहनों के खातों में डालेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि 10 तारीख को ही यह घोषित किया जायेगा कि अब 21 वर्ष की बहनें भी लाड़ली बहना में शामिल होंगी। साथ ही जिन बहनों के परिवार में ट्रेक्टर है, उन्हें भी इस योजना का लाभ दिया जायेगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राघौगढ़ के विकास में सरकार कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगी। वर्ष 2003 से पूर्व राघौगढ़ में न सड़क थी, न बिजली और न ही पीने का पानी था। सड़कों की हालत भी बहुत ही खराब थी। 2003 के बाद हमने यहाँ विकास के अनेक कार्य किए हैं और विकास की गति को हम रूकने नहीं देंगे।

देश-प्रदेश में बेटियाँ बन रही हैं सशक्त – केन्द्रीय मंत्री श्री सिंधिया

केन्द्रीय मंत्री श्री सिंधिया ने कहा कि केन्द्र एवं राज्य सरकार ने महिला शक्ति को आगे बढ़ाने का काम किया है, जिससे नारी शक्ति अपनी प्रगति का मार्ग स्वयं तय कर सकती है। देश-प्रदेश में बेटियाँ अब बोझ नहीं रही हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू किए गए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम तथा मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा शुरू की गई लाड़ली लक्ष्मी, लाड़ली बहना एवं मुख्यमंत्री कन्या विवाह-निकाह योजना ने इसमें महती भूमिका निभाई है। महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में मध्यप्रदेश में जो कार्य हुआ है वह देश में अनुकरणीय है। श्री सिंधिया ने कहा कि राघौगढ़ क्षेत्र में वर्ष 2003 से पहले अनेक समस्याएँ थीं, लोगों को मूलभूत सुविधाओं के लिये भी परेशान होना पड़ रहा था। वर्ष 2003 के बाद विकास के द्वार खुले और लोगों को बेहतर सुविधाएँ मिल रही हैं। सांसद श्री रोडमल नागर ने कहा कि केन्द्र के और प्रदेश सरकार आम जन के उत्थान जो कार्य अनुकरणीय हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महिला सशक्तिकरण की दिशा में जो ऐतिहासिक काम किया है, उसकी जितनी प्रशंसा की जाए उतनी कम है।

सरिता के परिवार को प्रतिमाह मिल रहे हैं 13 हजार रूपए

राघौगढ़ निवासी श्रीमती सरिता ने मंच पर आकर बताया कि वह स्व-सहायता समूह की सदस्य है और संयुक्त परिवार में रहती है। परिवार की 13 बहनों को मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना में एक–एक हजार रूपए की राशि प्राप्त हो रही है। इस तरह परिवार को प्रतिमाह 13 हजार रूपए की राशि प्राप्त होने से आर्थिक संबल मिला है और वे अपने बच्चों की शिक्षा-दीक्षा में भी समर्थ हुई हैं।

हितलाभ वितरण

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सम्मेलन में विभिन्न योजनाओं में हितग्राहियों को हितलाभ वितरण भी किया। लाड़ली बहना योजना, आवासीय भू-अधिकार पत्र सहित विभिन्न योजनाओं के 7 हितग्राहियों को स्वीकृति पत्र प्रदान किए गए। लाड़ली बहनाओं ने स्वयं तैयार की गई बड़ी राखी बाँधकर मुख्यमंत्री का अभिवादन किया।

लोकार्पण-भूमि-पूजन

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विधानसभा क्षेत्र राघौगढ़ में 7 करोड़ 40 लाख की लागत के कुल 6 विकास कार्यों का लोकार्पण और 43 करोड़ 86 लाख की लागत के 11 विकास कार्यों का भूमिपूजन किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विधानसभा क्षेत्र चाचौड़ा के 82 करोड़ 86 लाख की लागत के 59 विकास कार्यों का भूमि-पूजन भी किया।


सुश्री उमा दीदी के व्यक्तित्व विकास में स्व. श्री लोधी का योगदान महत्वपूर्ण : मुख्यमंत्री श्री चौहान

8 July 2023
मुख्यमंत्री ने बुंदेलखंड के गौरव स्व. श्री लोधी के पुण्य-स्मरण दिवस कार्यक्रम में दी श्रद्धांजलि
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि स्व. श्री स्वामी प्रसाद लोधी जनता के हित में मेहनत, ईमानदारी और संकल्प शक्ति के साथ कार्य करते रहे। वे जीवन के हर क्षण का सदुपयोग करते थे। उनकी स्मृतियां अनेक हैं। इन स्मृतियों से उनकी उपस्थिति हमारे बीच हमेशा सजीव बनी रहेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज रवीन्द्र भवन में बुंदेलखंड के गौरव स्व. श्री लोधी के पुण्य-स्मरण दिवस कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने स्व. श्री लोधी के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर नमन किया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सुश्री उमा दीदी को आगे बढ़ाने और उनके व्यक्तित्व के विकास में स्व. श्री लोधी का महत्वपूर्ण योगदान है। दीदी ने भाई साहब की अंतिम वर्षों में जो सेवा की वह अद्भुत है। सुश्री उमा दीदी उनके सामने आती थी तो उनके चेहरे पर झलकने वाली प्रसन्नता सहज ही देखी जा सकती थी।

सुश्री उमा 'दीदी' अनंत शक्तियों का भंडार हैं

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सुश्री उमा 'दीदी' अनंत शक्तियों का भंडार हैं। वे जनहित में जान हथेली पर रखकर संघर्ष करती हैं। मैं उनके साथ बचपन से काम कर रहा हूँ। देश और प्रदेश की राजनीति में उनका अमूल्य योगदान है। उन्होंने कई विकास कार्यों की नींव रखी। स्व. श्री लोधी ने उसी तरह उमा दीदी का ध्यान रखा, जैसे पिता-पुत्री का ध्यान रखता है। ऐसा समर्पण दुर्लभ ही देखने को मिलता है। स्व. श्री लोधी जुझारू और जुनूनी थे। सुश्री उमा दीदी को मध्यप्रदेश के रत्न के रूप में गढ़ने वाले मनीषी स्व. श्री लोधी का सम्मान करना हमारा कर्तव्य है।

स्व. श्री लोधी ने समाज के प्रत्येक वर्ग की चिंता की

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्व. श्री लोधी ने समाज के प्रत्येक वर्ग की चिंता की। चाहे लोधी समाज संगठन की बात हो या अन्य समुदायों के कल्याण की, वे सभी के हित में सतत् प्रत्यनशील रहते थे। बुंदेलखंड अंचल के विकास के लिए भी अथक प्रयास किये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्व. श्री लोधी के पुत्र श्री नील माधव और पुत्री सुश्री नित्या को आशीर्वाद दिया।

शराब नीति में प्रदेश बन गया मॉडल स्टेट - सुश्री उमा भारती

पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री उमा भारती ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व में सरकार ने प्रदेश में नई शराब नीति बनाकर अद्भुत कार्य किया है। मध्यप्रदेश में एक साथ ढाई हजार अहाते बंद किए गए हैं। शराब नीति में प्रदेश मॉडल स्टेट बन गया है। श्री चौहान के कुशल नेतृत्व में प्रदेश निरंतर विकास के पथ पर आगे बढ़ रहा है।


गरीबों का सम्मान और उनकी सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता : मुख्यमंत्री श्री चौहान
कलेक्टर्स को दिए निर्देश


7 July 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वर्षाकाल के आगमन के साथ ही शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में नागरिकों को वर्षाजनित समस्याओं से बचाने के लिए प्रशासनिक अमला सक्रिय रहे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कलेक्टर्स को निर्देश दिए हैं कि वे अपने जिले में ऐसे क्षेत्रों जहाँ अधिक वर्षा की स्थिति में जलभराव होता है, वहाँ पूर्व से आवश्यक व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कलेक्टर्स को निर्देशित किया कि स्वास्थ्य विभाग के अमले द्वारा वर्षाजनित रोगों की रोकथाम और प्रभावितों के उपचार के लिए समुचित कार्यवाही की जाए।

किसानों के लिए खाद के भंडारण की व्यवस्था करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कलेक्टर्स को दिए निर्देश दिए हैं कि खरीफ के लिए किसानों को खाद की उपलब्धता और आवश्यक भंडारण व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। यह देख लें कि किसी क्षेत्र में खाद और उर्वरक की आपूर्ति और उपलब्धता में कमी न हो। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नर्मदापुरम सहित विभिन्न जिलों में मूंग की खरीदी के संबंध में भी कलेक्टर्स से चर्चा की।


लोक निर्माण मंत्री श्री भार्गव द्वारा 227 करोड़ की लागत के 47 कार्यों को मंजूरी

7 July 2023
105 करोड़ से अधिक राशि से बनेंगे 9 छोटे पुल
भोपाल।लोक निर्माण मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने प्रदेश में 227 करोड़ 81 लाख रूपये की लागत से 47 कार्यों की मंजूरी प्रदान की है। लोक निर्माण विभाग की स्थाई वित्त समिति की 248वीं बैठक 105 करोड़ 15 लाख रूपये की लागत से 9 पुल तथा 28 करोड़ 49 लाख रूपये लागत के चार कार्यों की पुनरीक्षित स्वीकृति स्थायी वित्त समिति की प्रदान की गई है। प्रमुख सचिव लोक श्री सुखवीर सिंह ने बताया कि 248वीं बैठक में नर्मदापुरम जिले के अंतर्गत साधपुरा प्रधानमंत्री सड़क से चूरना, कालाआखार, श्रीढाना, खकरापुर मार्ग 12 कि.मी. के लिए 14 करोड़ एक लाख रूपये की पुनरीक्षित स्वीकृति जारी की गई है, इसी क्रम में नरसिंहपुर जिले में एनएच 26 से बरमान खुर्द 3 कि.मी. की 7 करोड़ 49 लाख रूपये, मंडला जिले में डोंगरगांव सुडगांव, सालीवाड़ा मार्ग 5 कि.मी. की 4 करोड़ 82 लाख रूपये की तथा अशोक नगर जिले में लिधौरा से गता लंबाई 3 कि.मी., 2 करोड़ 16 लाख रूपये की पुनरीक्षित प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई है। प्रमुख सचिव ने बताया कि 9 पुल जिनमें एक रेलवे अंडर ब्रिज भी शामिल है वह 105 करोड़ 15 लाख रूपये से बनाए जाएगें, जिनकी स्वीकृति की प्रदान की गई है। इनमें सागर जिले में 11 करोड़ 2 लाख रूपये की लागत से बड़गान से पर्रका मार्ग में सत्तीघाट सुनार नदी पर, बड़गान पर्रका मार्ग पर देहार (सत्तीघाट) उच्चस्तरीय पुल का निर्माण एवं 8 करोड़ 44 लाख रूपये से राहतगढ़ छिरखेड़ा दरकोजी मार्ग पर बरैनीघाट के पास बीना नदी पर जलमग्नीय पुल का निर्माण, खरगोन जिले में 18 करोड़ 99 लाख रूपये से कसरावद पीपलगोन मार्ग पर वेदा नदी पर उच्चस्तरीय पुल का निर्माण, इंदौर जिले में 7 करोड़ 73 लाख रूपये से जामोदी सोलसिंधी अतरालिया क्षिप्रा नदी पर जलमग्नीय पुल का निर्माण, रतलाम जिले में 4 करोड़ 35 लाख रूपये से रतलाम में रेल्वे क्रासिंग क्र. 80 मोरवानी पर अण्डर ब्रिज का निर्माण, पन्ना जिले में 10 करोड़ एक लाख रूपये से पवई विकासखण्ड के ग्राम उमरहट मेन्हा में केन नदी पर जलमग्नीय पुल का निर्माण, दमोह जिले में 16 करोड़ 42 लाख रूपये से नरयावली मंगोला के सीतानगर में सुनार नदी पर जलमग्नीय पुल निर्माण, रीवा जिले में 16 करोड़ 60 लाख रूपये से सोहागी बड़ागांव कोरगांव में बेलन नदी (डीह) पर पहुँच मार्ग सहित पुल एवं 11 करोड़ 59 लाख रूपये से रौसर चौराहे से कुठुलिया मार्ग में बीहर नदी पर जलमग्नीय पुल का निर्माण, भोपाल जिले 8 करोड़ 85 लाख रूपये से भोपाल, जबलपुर, उज्जैन, इंदौर एवं रीवा संभाग में पुलों, फ्लॉय ओव्हर, आर. ओ. बी. के लिए कन्सल्टेंसी सेवाओं के लिए स्वीकृति दी है। रीवा, सतना एवं शहडोल जिले के सड़क निर्माण के लिए 10 करोड़ 99 लाख रूपये की स्वीकृति दी है। जिसमें रीवा जिले में 7 करोड़ 83 लाख रूपये से डेल्ही से देवगांव तिवरियान तक व्हाया सेमरी, कोलगढ, मेथौरी का निर्माण, सतना जिले में 2 करोड़ 22 लाख रूपये से मझगवां से गुलवार कोठार, शहडोल जिले में 93 लाख रूपये से लालपुर से ग्राम पकरिया का निर्माण की स्वीकृति दी है। इसी क्रम में दतिया में 2 करोड़ 7 लाख रूपये से ग्राम मकरारी से पच्चरगढ़ तथा 99 लाख रूपये गवर्नमेंट कॉलोनी अनामय आश्रम से पंचशील नगर मार्ग निर्माण, ग्वालियर जिले में 12 करोड़ 64 लाख रूपये से लश्कर से तिघरा मार्ग के उन्नयन के लिये बुरहानपुर जिले में 6 करोड़ 52 लाख रूपये सिवल केरपानी आमुल्ला परेठा मार्ग निर्माण कार्य, धार जिले में 67 लाख रूपये डाक बंगला माण्डव उन्नयन व अन्य निर्माण कार्यों की स्वीकृति प्रदान की गई। साथ ही भोपाल और रायसेन जिले में सड़क निर्माण के लिए 4 करोड़ 50 लाख रूपये की स्वीकृति दी गई है। इसमें भोपाल में 97 लाख रूपये रूपये से समसपुरा जोड़ से बैरीयर, 18 लाख रूपये से लाल परेड ग्राउण्ड पर बेरिकेडिंग एप्रोच रोड, 49 लाख रूपये से बरकतउल्ला विश्वविद्यालय तीन हैलिपेड का नवीनीकरण, 10 लाख रूपये से होशंगाबाद रोड से संत आशाराम नगर होते हुए कटारा हिल्स तक भू-अर्जन कार्य के लिये एवं रायसेन जिले में 91 लाख रूपये से सेमरी खोजरा से पी. एम. जी. एस. वाय. रोड से बंजारी माता मंदिर निर्माण कार्य स्वीकृत किये गये हैं, इनमें जबलपुर एवं नरसिंहपुर जिले के लिए 12 करोड़ 65 लाख रूपये जबलपुर जिले में 7 करोड़ 90 लाख रूपये से बरगीनगर कलकुही और नरसिंहपुर जिले में 4 करोड़ 75 लाख रूपये से ओल्ड बाम्बे रोड से देवनगर को निर्माण कार्यों की स्वीकृति दी गई। 7 शासकीय आवासों में अतिरिक्त निर्माण कार्य के लिए एक करोड़ 30 लाख रूपये स्वीकृत किये गये हैं। मंदसौर और उज्जैन जिले के निर्माण कार्यों के लिए 32 करोड़ 92 लाख रूपये की मंजूरी दी गई है। मंदसौर जिले में 4 करोड़ रूपये से जोगीखेडा से व्हाया भाटपिपल्या डासीया मार्ग 5 करोड़ 6 लाख रूपये से पिण्डा से धुंधडका मार्ग व्हाया लसुडावन बावरेचा तथा 4 करोड़ 11 लाख रूपये से उजागरिया से काचरिया मुण्डकोषा व्हाया ढिकनिया और उज्जैन जिले में 5 करोड़ 5 लाख रूपये से माधोपुरा से करोदा मार्ग, 4 करोड़ 73 लाख रूपये से पाट से जवासिया पंथ का पुर्ननिर्माण, 6 करोड़ 73 लाख रूपये से झारड़ा से साकरिया और इंदोख बोलखेडा घाट से माल्या मार्ग का पुर्ननिर्माण कार्य एवं 3 करोड़ 20 लाख रूपये से महिदपुर पानबिहार जीवाजी नगर मार्ग में 03 नग स्लेब कलवर्ट का निर्माण की स्वीकृति प्रदान की है।


गरीबों का सम्मान और उनकी सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता : मुख्यमंत्री श्री चौहान

6 July 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने सीधी के पीड़ित व्यक्ति श्री दशमत रावत से मुख्यमंत्री निवास में भेंट की। मुख्यमंत्री ने श्री दशमत के चरण पखार और तिलक कर शॉल-श्रीफल और श्री गणेश प्रतिमा भेंट की। उन्होंने घटना पर दुख व्यक्त किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्री दशमत के साथ स्वल्पाहार किया और परिवार की कुशल-क्षेम पूछी। उन्होंने श्री दशमत से कहा कि" आप मेरे साथी और भाई हो, मन दुखी है, यह आपकी पीड़ा बाँटने का प्रयास है, आपसे माफी भी माँगता हूँ, परिवार की जो भी जरूरत होगी उन्हें पूरा किया जाएगा। "मुख्यमंत्री ने श्री दशमत की पत्नी श्रीमती आशा रावत से भी फोन पर बातचीत की।

जनता ही मेरी भगवान और जनता की सेवा भगवान की पूजा

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा में कहा कि जनता ही मेरी भगवान है और जनता की सेवा भगवान की पूजा है। हम यह मानते हैं कि हर इंसान में भगवान निवास करते हैं, दरिद्र ही नारायण है। श्री दशमत के साथ हुए अन्याय से मेरा मन, दर्द और पीड़ा से भरा है। मन की व्यथा और पीड़ा को कम करने के लिए ही मैंने श्री दशमत को निवास बुलाकर उनके पैर धोए और पानी माथे से लगाया, जिससे मेरी व्यथा और दर्द कम हो सके।

अन्यायी का कोई धर्म-जाति-पार्टी नहीं होती

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि, जो अन्याय करता है उसका कोई धर्म-जाति-पार्टी नहीं होती, जिसने अन्याय किया है उसको कड़ी सजा मिली। जिसके साथ अन्याय हुआ है उसे दिल से लगाकर उसकी पीड़ा कम करने की हरसंभव कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा हम सब एक ही चेतना से बने हैं, ईश्वर ने हम सबको बनाया है। हम सब, अपने गरीब भाई-बहनों के प्रति मानवीयता, करुणा, प्रेम, दया और संवेदना से भरे रहें। गरीब का भी आत्म-सम्मान होता है। हमें यह सुनिश्चित करना है कि सबको सम्मान और सुरक्षा मिले।

जो भी गरीबों के साथ गड़बड़ करेगा उसे कठोरतम सजा मिलेगी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि श्री दशमत के पैर धोना, गरीबों के प्रति मेरी संवेदना और उनके प्रति सेवाभाव का संकेत है। गरीब की इज्जत हमारे लिये सबसे बड़ी है। जनता, शासन, प्रशासन को यह भी स्पष्ट संदेश है कि गरीबों के साथ यदि कोई गड़बड़ करेगा तो उसे कठोरतम सजा मिलेगी। गरीबों का सम्मान और उनकी सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है।


पंडित श्यामा प्रसाद मुखर्जी की वजह से ही आज जम्मू कश्मीर में एक विधान एक निशान और एक प्रधान: कृषि मंत्री कमल पटेल
6 July 2023
भोपाल /हरदा ।पंडित श्यामा प्रसाद मुखर्जी की जन्म जयंती पर कृषि मंत्री एवं किसान नेता कमल पटेल ने पंडित मुखर्जी के श्री चरणों में पुष्पांजलि अर्पित करते हुए कहा कि पंडित श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने देश में दो निशान दो विधान और दो प्रधान का विरोध करते हुए जो अलख का सूत्र पिरोया था।वह आज की स्थिति में हम सबको देखने मिल रहा है।

मंत्री पटेल ने कहा कि कश्मीर में उन्होंने जो अलख क्रांति खड़ी की थी ।उसी क्रांति के स्वरूप उनकी रहस्यमय तरीके से हत्या कर दी गई थी लेकिन जम्मू कश्मीर में उन के बलिदान को व्यर्थ नहीं जाने दिया।केंद्र में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की सरकार बनी।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह बने तो जम्मू कश्मीर में पंडित जी की अलख क्रांति के सूत्र का पालन करते हुए जम्मू कश्मीर से धारा 370 के कानून को हटाया गया। आज जम्मू कश्मीर में न तो दो विधान , न दो निशान और न दो प्रधान है।


6 जुलाई 1998 को बना था हरदा जिला......
हरदा जिले को हर क्षेत्र में नंबर वन बनाना हमारा सपना :कृषि मंत्री कमल पटेल......

6 July 2023
भोपाल/ हरदा। मध्यप्रदेश के कृषि मंत्री एवं किसान नेता कमल पटेल ने हरदा जिले की जनता जनार्दन को बधाई देते हुए कहा कि आज ही के दिन 6 जुलाई 1998 में प्रदेश के सबसे छोटे जिले के रूप में हरदा जिला बना था। हम क्षेत्रफल में जरूर छोटे थे लेकिन हमारा जिला कई क्षेत्रों में उन्नत था। जिस का हम सब ने मिलकर मेहनत कर बीते वर्षो में हरदा को नंबर वन जिला बनाया है। और जिन क्षेत्रों में हम अभी आगे नहीं बढ़ पाए हैं। उसको लेकर हम सब का सपना है कि हरदा जिला उन क्षेत्रों में भी अव्वल बने। कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा कि मां नर्मदा के नाभि कुंड से सटा हमारा जिला खेती किसानी के क्षेत्र में मध्यप्रदेश सहित देश में नंबर वन जिला है। गेहूं, चना और मूंग की फसल के उत्पादन में हरदा जिला नंबर वन है।

उन्होंने कहा कि हमारा हरदा सिंचित क्षेत्र में नंबर वन बनने जा रहा है। लगभग लगभग इस दिशा में जो काम किया जा रहा था। वह अब पूर्णता की ओर है। कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा कि सड़कों के क्षेत्र में जिले में सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है। जिससे जिले में सड़क आवागमन की सुगमता लोगों को मिलेगी। उन्होंने कहा कि जिले की खेल प्रतिभाओं को उभारने की दिशा में खिलाड़ियों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। इसी कड़ी में हर वर्ष अब जिले में कमल युवा खेल महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है जिस में योग खिलाड़ियों का चयन कर उन्हें उनकी खेल विधाओं में आगे बढ़ाने का जिम्मा उठाया जा रहा है। ओलंपिक और राष्ट्रकुल खेलों में हरदा के बच्चे गोल्ड सिल्वर और कांस्य पदक लेकर जिले का नाम रोशन करें। इसके लिए युद्ध स्तर पर तैयारियां की जा रही है। तो दूसरी ओर हरदा जिले के युवाओं ने देशभक्ति की राह पर सेना में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है। ऐसे हमारे छोटे जिले के सभी वर्गों के लोगों को मैं अपनी ओर से बधाई देता हूं।


बाढ़ की स्थिति में बचाव और राहत कार्य का सेना, एनडीआरएफ और एसडीईआरएफ ने किया पूर्व अभ्यास

5 July 2023
भोपाल। भारतीय सेना, सुदर्शन चक्र कोर, एनडीआरएफ (राष्ट्रीय आपदा आपातकालीन राहत बल) और एसडीईआरएफ (राज्य आपदा आपातकालीन राहत बल) की टुकड़ियों ने बड़े तालाब (खानूगाँव के पास) पर बाढ़ की स्थिति में राहत और बचाव की गतिविधियों का पूर्व अभ्यास किया।

प्रदेश में बाढ़ राहत कार्य से जुड़े इंजीनियर रेजीमेंट टॉस्क फोर्स, सेना के कमाण्डरों ने पूर्व अभ्यास में सक्रियता से भाग लिया। अभ्यास के दौरान आर्मी एविएशन विंग के हेलीकॉप्टर भी शामिल रहे। बाढ़ पीड़ितों को समय पर बचाव और राहत देने की अनेक गतिविधियों का जीवंत प्रदर्शन किया गया।

बाढ़ राहत और बचाव के अभ्यास में योजना की तैयारी, नागरिक प्रशासन के साथ सम्पर्क आदि के संबंध में जानकारी दी गई। बाढ़ राहत कार्यों के समय उपयोग किये जाने वाले विभिन्न उपकरणों का प्रदर्शन किया गया। आपदा प्रबंध संस्थान के कार्यों की जानकारी भी दी गई। सेना, एनडीआरएफ और एसडीईआरएफ के वरिष्ठ अधिकारी मौके पर उपस्थित थे।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भारतीय फुटबॉल टीम को सैफ चेंपियनशिप जीतने पर दी बधाई
5 July 2023
भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने साउथ एशियन फुटबॉल फेडरेशन चेंपियनशिप (सैफ) का फाइनल मैच जीत कर भारतीय फुटबॉल टीम को नौवीं बार स्वर्ण कप प्राप्त करने पर बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ट्वीट कर कहा है कि "फुटबॉल टीम की शानदार और ऐतिहासिक विजय से हर भारतवासी गौरवान्वित है"। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने खिलाड़ियों को शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि आप अपने उत्कृष्ट प्रदर्शन से देश और दुनिया के खेल प्रेमियों का दिल जीतते रहें।

उल्लेखनीय है कि बेंगलुरु में मंगलवार को भारत और कुवैत के बीच खेले गए सैफ चेंपियनशिप 2023 के फाइनल मुकाबले में पेनल्टी शूट आउट में भारत ने कुवैत पर 5-4 से विजय प्राप्त कर चेंपियनशिप पर अपना कब्जा बनाए रखा है।


आँगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका एवं मिनी आँगनवाड़ी कार्यकर्ता के मानदेय में वृद्धि का अनुसमर्थन

4 July 2023
10 नवीन महाविद्यालय की स्थापना की स्वीकृति माँ अहिल्या देवी कल्याण बोर्ड एवं संत रविदास सांस्कृतिक एकता न्यास गठित होगा मुख्यमंत्री श्री चौहान की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद के निर्णय
भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद आज मंत्रालय में हुई। बैठक में निर्णय लिया गया कि आँगनवाड़ी कार्यकर्ता को 3 हजार रूपये वृद्धि के बाद अब 13 हजार रूपये प्रतिमाह मानदेय मिलेगा और सहायिका एवं मिनी आँगनवाड़ी कार्यकर्ता को 750 रूपये वृद्धि के बाद प्रतिमाह बढ़ा हुआ मानदेय मिलेगा। आँगनवाड़ी कार्यकर्ता के मानदेय में प्रतिवर्ष 1000 और आँगनवाड़ी सहायिका एवं मिनी आँगनवाड़ी कार्यकर्ता के मानदेय में 500 रूपये प्रतिवर्ष की वृद्धि की जाएगी। साथ ही 62 वर्ष की आयु पूर्ण करने पर सेवानिवृत्ति के समय आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को एक लाख 25 हजार रूपये और आँगनवाड़ी सहायिका एवं मिनी आँगनवाड़ी कार्यकताओं को एक लाख रूपये दिये जाएंगे।

10 नवीन महाविद्यालय की स्थापना की स्वीकृति

मंत्रि-परिषद द्वारा प्रदेश में 10 नवीन महाविद्यालय की स्थापना, 4 महाविद्यालय में नवीन संकाय तथा 7 महाविद्यालय में स्नातकोत्तर विषय प्रारंभ किए जाने के लिये 589 नवीन पद सृजित करने की मंजूरी दी गई। इसके लिये आवर्ती व्यय भार 33 करोड़ 47 लाख 50 हजार रूपये प्रतिवर्ष एवं अनावर्ती व्यय 105 करोड़ 46 लाख 70 हजार रूपये की स्वीकृति दी गई।

माँ अहिल्या देवी कल्याण बोर्ड एवं संत रविदास सांस्कृतिक एकता न्यास के गठन की स्वीकृति

मंत्रि-परिषद द्वारा माँ अहिल्या देवी कल्याण बोर्ड के गठन का निर्णय लिया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान की घोषणा 22 अप्रैल 2023 के आधार पर पाल-गडरिया, धनगर वर्ग के समग्र कल्याण के लिए माँ अहिल्या देवी कल्याण बोर्ड का गठन करने का निर्णय लिया गया। बोर्ड में एक अध्यक्ष एवं 4 सदस्य होंगे। बोर्ड के गठन से पाल-गडरिया, धनगर वर्ग के व्यक्तियों के लिए शासन की कल्याणकारी/ जन-हितकारी योजनाओं का बेहतर क्रियान्वयन सुनिश्चित होगा। इस वर्ग की आवश्यकता अनुसार कार्यक्रमों का निर्माण किया जा सकेगा। इससे इस वर्ग के आर्थिक, सामाजिक एवं शैक्षणिक विकास को गति प्राप्त हो सकेगी। मंत्रि-परिषद ने मध्यप्रदेश लोक न्यास अधिनियम अन्तर्गत "संत रविदास सांस्कृतिक एकता न्यास" की स्थापना एवं गठन के लिये भी स्वीकृति प्रदान की।

धार जिले की बरखेड़ा मध्यम सिंचाई परियोजना के लिये 478 करोड़ 88 लाख रूपये की स्वीकृति

मंत्रि-परिषद द्वारा धार जिले की बरखेड़ा मध्यम सिंचाई परियोजना लागत राशि 478 करोड़ 88 लाख रूपये, सिंचाई क्षमता 15031 हेक्टेयर की पुनरीक्षित प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई है। परियोजना से कुक्षी तहसील के 43 ग्राम को सिंचाई सुविधा का लाभ प्राप्त होगा।

डिजिटल क्रॉप सर्वेक्षण परियोजना को स्वीकृति

मंत्रि-परिषद ने केन्द्र सरकार द्वारा प्रस्तावित डिजिटल क्रॉप सर्वेक्षण परियोजना का क्रियान्वयन राजस्व विभाग द्वारा किये जाने एवं परियोजना के लिये प्रस्तावित केन्द्र प्रवर्तित योजना के अनुसार राज्य शासन द्वारा कार्यवाही किये जाने की स्वीकृति प्रदान की है।

नजूल भूमि का स्थायी पट्टे देने का अनुमोदन

मंत्रि-परिषद द्वारा निर्णय लिया गया कि नजूल अधिकारी जिला रीवा द्वारा प्रेषित प्रस्ताव अनुसार रिफ्यूजी कॉलोनी रीवा में निवासरत 30 आधिपत्य धारियों को निर्मित एवं खुली भूमि का क्षेत्रफल वर्ष 2004- 05 की गाइडलाइन के आधार पर प्रब्याजि का निर्धारण करते हुए तथा मध्यप्रदेश भू-राजस्व संहिता (भू-राजस्व का निर्धारण तथा पुनर्निर्धारण) नियम 2018 में निर्धारण की विहित दर से दो गुना वार्षिक भू-भाटक अधिरोपित करते हुए तथा इस प्रकार संगणित प्रब्याजि तथा भू- भाटक पर वर्ष 2004-05 से वर्तमान तक के ब्याज से मुक्त करते हुए 30 वर्षीय स्थायी पट्टे पर भूमि का आवंटन स्वीकृत किया जाये। स्थायी पट्टे का प्रारूप नगरीय क्षेत्रों के शासकीय भूमि के धारकों के धारणाधिकार के संबंध में प्रारूप "घ" अनुसार नजूल भूमि का स्थायी पट्टा जारी किया जाये।

कुड़मी जाति को कुर्मी और कुरमी के साथ सूची क्रमांक 39 में शामिल करने की स्वीकृति

राज्य की पिछड़ा वर्ग की सूची में एक ही वर्ग की 2 जातियाँ, कुड़मी एवं कुर्मी, कुरमी पृथक-पृथक क्रमांक में दर्ज होने के कारण होने वाली समस्याओं के निराकरण के लिये बुंदेलखण्डीय गौर समाज द्वारा माँग की गई थी। इस पर विभागीय प्रस्ताव अनुसार मंत्रि-परिषद द्वारा विचारोपरांत कुड़मी जाति को सूची क्रमांक 76 से विलोपित कर सूची क्रमांक 39 में कुर्मी, कुरमी के साथ शामिल किए जाने का निर्णय लिया गया। निर्णय से इस वर्ग को जाति प्रमाण-पत्र में आ रही समस्याओं के समाधान के साथ राज्य शासन द्वारा पिछड़ा वर्ग को प्रदाय किए जा रहे लाभ प्राप्त करने के लिये समान एवं समुचित अवसर उपलब्ध हो सकेंगें।

अन्य निर्णय

मंत्रि-परिषद द्वारा सहकारिता विभाग की सोयाबीन प्र-संस्करण संयंत्र, चौरई जिला छिंदवाड़ा स्थित परिसम्पत्ति पर स्थापित प्लांट एवं मशीनरी को स्क्रेप के रूप में निर्वर्तन किए जाने के लिए आमंत्रित चतुर्थ निविदा के H1 निविदाकार उच्चतम निविदा राशि 8 करोड़ 30 लाख 6 हजार रूपये की संस्तुति एवं H-1 निविदाकार द्वारा निविदा बोली मूल्य का 100% जमा करने के बाद विक्रय अनुबंध की कार्यवाही म.प्र. राज्य तिलहन उत्पादक सहकारी संघ के परिसमापक संयुक्त आयुक्त सहकारिता द्वारा किये जाने का निर्णय लिया गया। मंत्रि-परिषद द्वारा कुटीर एवं ग्रामोद्योग विभाग की ब्लॉक-1, ग्राम- एहसानपुरा, तहसील- सारंगपुर, जिला-राजगढ़ भूमि परिसम्पत्ति सर्वे क्रमांक 45,54,55 एवं 56 कुल रकबा 17,400 वर्गमीटर के H-1 निविदाकार की उच्चतम निविदा राशि 2 करोड़ 11 लाख 11 हजार 111 रूपये की संस्तुति करते हुए उसे विक्रय करने एवं H-1 निविदाकार द्वारा निविदा राशि का 100% जमा करने के बाद अनुबंध / रजिस्ट्री की कार्यवाही जिला कलेक्टर द्वारा किये जाने का निर्णय लिया गया।


देश का अनूठा प्रयोग है मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना : मुख्यमंत्री श्री चौहान

4 July 2023
भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद की बैठक वंदे- मातरम के गान के साथ मंत्रालय में आरंभ हुई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्रि-परिषद की बैठक से पहले कहा कि आज का दिन प्रदेश के लिए महत्वपूर्ण है, आज से प्रदेश में मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना लागू हो रही है। यह योजना युवाओं में नये उत्साह, आशा और विश्वास का संचार करेगी। यह देश का अनूठा प्रयोग है। योजना में युवाओं को प्रतिमाह 8 से 10 हजार रूपए उपलब्ध कराए जाएंगे। यह अपने आप में बड़ी पहल है, आशा है कि अधिकतर युवाओं को काम सीखने वाले संस्थान में ही रोजगार मिल जाएगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उद्योग, कंपनियाँ और सर्विस सेक्टर उत्साह के साथ इस योजना से जुड़ रहे हैं। स्किल्ड मेनपॉवर और युवाओं को रोजगार के लिए तैयार करने की दिशा में प्रदेश एक बार फिर नया इतिहास रचेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्रि-परिषद के सभी सदस्यों को महत्वाकांक्षी योजना के लिए बधाई दी।


मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना पोर्टल में युवाओं के पंजीयन का आज करेंगे शुभारंभ

3 July 2023
राज्य स्तरीय कार्यक्रम रवीन्द्र भवन में
भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मंगलवार को औपचारिक शिक्षा प्राप्त युवाओं को पंजीकृत औद्योगिक एवं व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में ऑन जॉब ट्रेनिंग की सुविधा के लिए शुरू की गई "मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना" के राज्य स्तरीय कार्यक्रम में आवेदकों की पंजीयन प्रक्रिया का रवीन्द्र भवन भोपाल में दोपहर 12 बजे शुभारंभ करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान एक युवा का पोर्टल पर पंजीयन फॉर्म भरवायेंगे और उसे योजना की प्रक्रिया से अवगत कराएंगे। मुख्यमंत्री कॉलेज की छात्र-छात्राओं से संवाद भी करेंगे।
कार्यक्रम में खेल एवं युवा कल्याण, तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव और स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री इंदर सिंह परमार विशिष्ट अतिथि होंगे। कार्यक्रम में तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास, उच्च शिक्षा, स्कूल शिक्षा और ऊर्जा विभाग के हितग्राही सहित लगभग 1600 युवा शामिल होंगे। कार्यक्रम का सभी कॉलेज, स्कूल और तकनीकी शिक्षा के संस्थानों पर सीधा प्रसारण होगा। कार्यक्रम का लाइव प्रसारण सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म, ट्विटर, फेसबुक तथा यू-ट्यूब पर किया जायेगा।


मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना युवाओं को रोजगार से जोड़ेगी: मुख्यमंत्री श्री चौहान

3 July 2023
मुख्यमंत्री ने 4 जुलाई को होने वाले राज्य-स्तरीय कार्यक्रम की तैयारी की समीक्षा की
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना से प्रशिक्षण लेने वाले युवाओं को उद्योग उन्मुख नई तकनीक और प्रक्रियाओं में दक्षता लाने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा, जिससे उन्हें सहजता से रोजगार प्राप्त हो सकेगा। यह योजना युवाओं को आर्थिक रूप से स्वावलंबी बनाएगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री निवास कार्यालय समत्व भवन में मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना में युवा आवेदकों के लिये पंजीयन प्रक्रिया के शुभारंभ के राज्य-स्तरीय कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। यह कार्यक्रम 4 जुलाई को दोहपर 12 बजे भोपाल के रवीन्द्र भवन में होगा। इसमें एमएमएसकेवाय (MMSKY) पोर्टल का शुभारंभ होगा और पंजीयन की प्रक्रिया के बारे में विस्तृत जानकारी दी जाएगी। मुख्यमंत्री, कॉलेज के छात्र-छात्राओं से संवाद भी करेंगे। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल‍ सिंह बैंस सहित विभागीय अधिकारी मौजूद थे। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव वर्चुअली शामिल हुए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि योजना का शुभारंभ कार्यक्रम बेहतर और व्यवस्थित हो। कार्यक्रम में रोजगार-स्वरोजगार की जानकारी दी जाए। पंजीयन फार्म भरने का तरीका समझाया जाए। पंजीयन के बाद प्रोफाइल पूर्ण करने की प्रक्रिया आदि के बारे में बताया जाए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना के आवेदको को समग्र आईडी, शैक्षणिक योग्यता, डिग्री आदि की आवश्यकता होगी। कार्यक्रम में इंजीनियरिंग, पॉलिटेक्निक, आईटीआई और उच्च शिक्षा महाविद्यालयों के विद्यार्थियों के साथ कक्षा 11वीं-12वीं के विद्यार्थियों को भी जोड़ा जाए। कार्यक्रम का प्रत्येक जिला मुख्यालय पर प्रसारण हो। योजना और कार्यक्रम का विभिन्न प्लेटफार्म से बेहतर प्रचार-प्रसार किया जाए।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दी गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएँ
3 July 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने समस्त प्रदेशवासियों को गुरु पूर्णिमा के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ दी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ट्वीट किया कि "जीवन को सार्थक बनाने वाले गुरुओं के प्रति सम्मान प्रकट करने का आज विशेष दिन है। इस अवसर पर सभी गुरुजनों को सादर नमन। गुरुजनों के ज्ञान के प्रकाश से हम सबका जीवन सदैव प्रकाशमान रहे, यही प्रार्थना है"।


युवाओं के सपनों को साकार करेगी मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना: चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री सारंग

2 July 2023
नरेला विधानसभा में विभिन्न विकास कार्यों का भूमि-पूजन
भोपाल।चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग ने रविवार को नरेला विधानसभा के वार्ड 76, 78, 77 एवं 75 में अनेक विकास कार्यों का भूमि-पूजन किया। मंत्री श्री सारंग ने कहा कि नरेला विधानसभा में सड़क एवं नालियों के नवीनीकरण के साथ ही नागरिकों की मूलभूत सुविधाओं का विस्तार करते हुए विभिन्न विकास कार्य निरंतर प्रगतिरत हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना के बारे में युवाओं को जागरूक किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा प्रारंभ की गई सीखो-कमाओ योजना युवाओं के सपनों को साकार करने में मददगार बनेगी। कार्यक्रम के दौरान स्थानीय रहवासियों ने विकास कार्यों की सौगात के लिये मंत्री श्री सारंग पर पुष्प-वर्षा कर आभार व्यक्त किया।

युवाओं को रोजगार से जोड़ेगी मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना

मंत्री श्री सारंग ने जनता को राज्य सरकार की योजना के प्रति जागरूक करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा युवाओं को रोजगार से जोड़ने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री सीखो- कमाओ योजना की शुरूआत की है। इसमें युवाओं को रोजगार-स्वरोजगार के विभिन्न क्षेत्रों एवं उद्योगों के कार्यों की ट्रेनिंग दी जाएगी। उन्होंने बताया कि ट्रेनिंग के साथ राज्य सरकार द्वारा युवाओं को 8 से 10 हजार तक की राशि का स्टायपेंड भी दिया जायेगा। योजना में एक अगस्त से ट्रेनिंग शुरु होगी और पहला स्टायपेंड एक सितंबर को दिया जाएगा।

यह होंगे विकास कार्य

मंत्री श्री सारंग ने नरेला विधानसभा अंतर्गत वार्ड 76 रास्लाखेड़ी में नाली एवं सड़क निर्माण के साथ बस स्टॉप एवं प्राथमिक विद्यालय निर्माण कार्य, वार्ड 78 विश्वकर्मा नगर फेस-2 में सिवेज टेंक, पार्क के बाउंड्री वॉल एवं नाली निर्माण कार्य, वार्ड 77 जैन कॉलोनी एवं एकता नगर में नाली एवं सड़क निर्माण कार्य तथा वार्ड 75 अंतर्गत छः घरा व नेवरी में सड़क एवं नाली निर्माण कार्य का भूमि-पूजन किया। उन्होंने कहा कि नरेला के समग्र विकास के लिये वे दृढ़ संकल्पित है। क्षेत्रवासियों की सुविधाओं में निरंतर वृद्धि के उद्देश्य के साथ नरेला के हर गली-हर मोहल्ले में विकास कार्य अनवरत जारी रहेंगे।

मंत्री श्री सारंग का रहवासियों ने किया भव्य स्वागत

मंत्री श्री सारंग का नरेला विधानसभा अंतर्गत 76, 78, 77 एवं 75 में भूमि-पूजन कार्यक्रम के पहले मुख्य कार्यक्रम स्थल आगमन पर रहवासियों द्वारा भव्य स्वागत किया गया। डीजे ढोल-नगाड़ों आदि के साथ सैकड़ों की संख्या में रहवासियों एवं कार्यकर्ताओं ने मंत्री श्री सारंग पर पुष्प-वर्षा की। रहवासियों के स्वागत से अभिभूत मंत्री श्री सारंग ने कहा कि जनता ने जो अपार स्नेह, आशीर्वाद एवं समर्थन दिया है वह एक ऋण की भांति है, इस ऋण को क्षेत्र के समग्र विकास से उतारा जाएगा। उन्होंने कहा कि नरेला विधानसभा विकास के मायने में कहीं से भी अछूती नहीं रहेगी।


उद्योग और व्यापार के लायसेंस का रिन्यूअल अब दस साल के लिए किया जाएगा - मुख्यमंत्री श्री चौहान

2 July 2023
मुख्यमंत्री ने 7वें आउट स्टेंडिंग इचीवमेंट अवार्ड प्रदान किए फेडरेशन ऑफ मध्यप्रदेश चेम्बर्स ऑफ कामर्स एण्ड इंडस्ट्री का वार्षिक सम्मेलन
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि व्यापार और उद्योगों को बढ़ावा देने में कोई कमी नहीं रहने देंगे। प्रदेश में उद्योग विकास दर 24 प्रतिशत है। राज्य सरकार हर सेक्टर में उद्योगों को बढ़ावा देने का प्रयास कर रही है। व्यापारी और उद्योगपति प्रदेश की समृद्धि के लिए मिलकर कार्य करें। विकास में निंरतर भागीदारी करते रहें। प्रदेश में बेहतर निवेश और रोजगार की कोशिशें जारी हैं। प्रदेश और देश को व्यापारियों और उद्योगपतियों से बहुत आशाएँ हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उद्योग और व्यापार के लायसेंस का रिन्यूअल अब दस साल के लिए किया जाएगा। मुख्यमंत्री भोपाल में फेडरेशन ऑफ एमपी चेम्बर्स ऑफ कामर्स-एण्ड इंडस्ट्रीज के 7वें आउट स्टेंडिंग अवार्ड वितरण और 44 वें वार्षिक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने व्यापार और उद्योग के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यापारियों, उद्योगपतियों और संस्थानों को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। कार्यक्रम में फेडरेशन ऑफ मध्यप्रदेश चेम्बर्स ऑफ कामर्स एण्ड इंडस्ट्री के अध्यक्ष डॉ. राधाशरण गोस्वामी और बड़ी संख्या में व्यापार और उद्योग से जुड़े नागरिक उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश की जीएसडीपी 71 हजार करोड़ से बढ़ कर 15 लाख करोड़ हो गई है। देश के अन्य राज्यों से मध्यप्रदेश तेज गति से आगे बढ़ रहा है। प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय 11 हजार से बढ़कर एक लाख 40 हजार रूपए हो गई है। प्रदेश का बजट 21 हजार करोड़ से बढ़कर 3 लाख 14 हजार करोड़ हो गया है। कृषि के क्षेत्र में लगातार विकास दर बढ़ने का चमत्कार हुआ है।

कृषि उत्पादन में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। बिजली का उत्पादन 2900 मेगावॉट से बढ़कर 28 हजार मेगावॉट हो गया है। चारों तरफ विकास और प्रगति के कार्य हो रहे हैं। रोजगार और कौशल, सिंचाई, शहरों के विकास, पेयजल, पंचायत, ग्रामीण विकास, ऊर्जा, वन सहित हर क्षेत्र में हम आगे बढ़ रहे हैं। प्रदेश को आगे बढ़ाने की अनंत संभावनाओं को पूरा करने में आपका बेहतर योगदान हो। बासमती राइस की सुगंध कनाडा, अमेरिका सहित दुनिया के कई देशों में है। शरबती गेहूँ भी निर्यात होता है। किसानों की आय बढ़ रही है। किसानों के पास पैसा आने से व्यापारी मित्रों का व्यापार चलता है। रोजगार के अवसर बढ़ते हैं। कृषि विकास का अर्थ उद्योगों का विकास है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बहनों की आर्थिक स्थिति सुदृढ़ करने के लिए मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना बनाई गई है। इसके अतिरिक्त युवाओं को रोजगार देने के लिए राज्य शासन ने मुख्यमंत्री सीखो- कमाओ योजना शुरू की है जो अदभुत योजना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश को आगे बढ़ाने के सपनों को पूरा करने के लिए तेज गति से कार्य किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने उद्योगपति स्व. रमेश अग्रवाल का स्मरण करते हुए कहा कि वे मध्यप्रदेश के ब्रांड एम्बेस्डर थे।

डॉ. राधाशरण गोस्वामी ने कहा कि फेडरेशन ऑफ एमपी चेम्बर्स ऑफ कॉमर्स एण्ड इंण्डस्ट्री द्वारा व्यापार और उद्योग को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न कार्य किए जा रहे हैं। विश्व भर में उत्पाद भेजे जा रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान, उद्योगपतियों को लगातार प्रेरित कर रहे हैं। प्रदेश की अर्थ- व्यवस्था बढ़ रही है। फेडरेशन के संरक्षक श्री गिरीश अग्रवाल ने कहा कि उद्योगपतियों को राज्य सरकार साथ लेकर चल रही है। मध्यप्रदेश कृषि के साथ औद्योगीकरण में भी आगे बढ़े और सर्वश्रेष्ठ प्रदेश बने, इसके प्रयास तेजी से होना चाहिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान का फेडरेशन की ओर से स्मृति-चिन्ह प्रदान कर सम्मान किया गया।


प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का जबलपुर के डुमना विमानतल पर आत्मीय स्वागत

1 July 2023
भोपाल।प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का जबलपुर के डुमना विमानतल पहुँचने पर आत्मीय स्वागत किया गया। प्रधानमंत्री श्री मोदी का भारतीय वायुसेना के विशेष विमान द्वारा दोपहर लगभग 2.15 बजे डुमना विमानतल आगमन हुआ। प्रधानमंत्री की अगवानी मिनिस्टर इन वेटिंग प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री एवं जबलपुर जिले के प्रभारी मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने की। प्रधानमंत्री श्री मोदी दोपहर 2.30 बजे भारतीय वायुसेना के हेलीकॉप्टर द्वारा शहडोल जिले के लालपुर हेलीपेड के लिये रवाना हुए।

विमानतल पर प्रधानमंत्री का स्वागत केंद्रीय जल शक्ति एवं खाद्य प्र-संस्करण उद्योग राज्य मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल, मध्यप्रदेश पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष श्री विनोद गोंटिया, सांसद श्री राकेश सिंह, राज्य सभा सदस्य श्रीमती सुमित्रा वाल्मीकि, विधायक सर्वश्री अजय विश्नोई, श्री सुशील कुमार तिवारी "इंदु", श्री अशोक रोहाणी, श्रीमती नन्दिनी मरावी, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री संतोष वरकड़े, पूर्व मंत्री श्री अंचल सोनकर, श्री हरेन्द्रजीत सिंह बब्बू, पूर्व विधायक श्रीमती प्रतिभा सिंह, पूर्व महापौर श्रीमती स्वाति गोडबोले, श्री प्रभात साहू एवं श्री सुभाष तिवारी "रानू", श्री आशीष दुबे, श्री अखिलेश जैन, श्री अभिलाष पांडे, श्री जी.एस. ठाकुर, श्री शरद अग्रवाल एवं श्री सुधांशु गुप्ता ने किया।

मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, जनरल ऑफीसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल एम.के. दास, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री चंचल शेखर, संभागायुक्त श्री अभय वर्मा, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री उमेश जोगा, उप पुलिस महानिरीक्षक श्री आर.आर.एस. परिहार, कलेक्टर श्री सौरभ कुमार सुमन एवं पुलिस अधीक्षक श्री टी.के. विद्यार्थी भी डुमना विमानतल पर मौजूद थे।


मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा श्रीमती जानकी देवी सूर्यवंशी के निधन पर शोक व्यक्त

1 July 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कलार समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री दिलीप सूर्यवंशी और उद्योगपति श्री दीपक सूर्यवंशी की मां श्रीमती जानकी देवी सूर्यवंशी के निधन पर शोक व्यक्त किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अरेरा कॉलोनी स्थित उनके निवास पहुँचकर अंतिम दर्शन किए तथा श्रद्धांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री श्री चौहान श्रद्धेय जानकी देवी की अंतिम यात्रा और भदभदा विश्राम घाट पर उनके अंतिम संस्कार में भी शामिल हुए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने परमपिता परमात्मा से दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान देने तथा परिजनों को यह दुख सहन करने की क्षमता प्रदान करने की प्रार्थना की है।



मुख्यमंत्री श्री चौहान ने राष्ट्रीय चार्टर्ड अकाउंटेंट दिवस की दी शुभकामनाएँ
1 July 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी सम्मानित चार्टर्ड अकाउंटेंट को राष्ट्रीय चार्टर्ड अकाउंटेंट दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ दी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ट्वीट किया है कि "देश और प्रदेश की आर्थिक प्रगति एवं विकास में चार्टर्ड अकाउंटेंट की भूमिका महत्वपूर्ण और सराहनीय है।"



राज्यपाल श्री पटेल ने राजभवन के सेवानिवृत्त अधिकारी-कर्मचारियों को विदाई दी

30 Jun 2023
भोपाल।राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने राजभवन के अधिवार्षिकी सेवा पूर्ण कर सेवानिवृत्त होने वाले अधिकारी-कर्मचारियों को पुष्प-गुच्छ, शॉल, श्रीफल और स्मृति-चिन्ह भेंट कर भावभीनी विदाई दी। राज्यपाल श्री पटेल ने उनसे भेंट करने आये सेवानिवृत्त अवर सचिव वित्त श्री आलोक दुबे, सचिवालय के कर्मचारी श्री भारत भूषण और डिस्पेंसरी में ड्रेसर श्री रघुवीर सिकरवार को स्वस्थ, सुदीर्घ और आनन्दमय जीवन की शुभकामनाएँ दी। राज्यपाल से भेंट के पहले सेवानिवृत्त अधिकारी-कर्मचारियों के लिए विदाई कार्यक्रम राजभवन के सांदीपनि सभागार में हुआ। समारोह में सेवानिवृत्त अधिकारी-कर्मचारियों ने सेवा-काल के दौरान राजभवन के अधिकारियों और कर्मचारियों से मिले सहयोग का स्मरण किया और सहयोग के लिए आभार माना। राजभवन के अधिकारी-कर्मचारियों ने भी सेवानिवृत्त अधिकारी-कर्मचारियों की सेवाओं की उत्कृष्टता का उल्लेख किया और उनके सुखद, स्वस्थ और सुदीर्घ जीवन की कामना की। कार्यक्रम का संचालन श्री जितेन्द्र पराशर ने किया। प्रमुख सचिव श्री डी.पी. आहूजा ने भी अधिकारी-कर्मचारियों को शॉल, श्रीफल और स्मृति-चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। विधि अधिकारी श्री उमेश कुमार श्रीवास्तव, उप सचिव श्री स्वरोचिष सोमवंशी, राज्यपाल के विशेष कर्त्तव्यस्थ अधिकारी श्री अरविंद पुरोहित, राजभवन के अन्य अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।


जन-प्रतिनिधि अपने कर्त्तव्यों एवं जन-कल्याण के प्रति संकल्पित हों : मुख्यमंत्री श्री चौहान

30 Jun 2023
मुख्यमंत्री ने अंतर्राष्ट्रीय संसदीय दिवस की शुभकामनाएँ दी
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने समस्त जन-प्रतिनिधियों को अंतर्राष्ट्रीय संसदीय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ दी हैं। मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया कि "यह अवसर जन-प्रतिनिधियों को उनके जन-सरोकारों के प्रति संकल्पबद्ध करता है तथा लोकतांत्रिक व्यवस्था के केंद्र में विधायी निकायों की सक्रिय, सकारात्मक भूमिका का स्मरण दिलाता है। आइए वर्ल्ड पर्लियामेंट दिवस पर हम सभी जन-प्रतिनिधि अपने कर्त्तव्यों एवं जन-कल्याण के प्रति संकल्पित हों।" उल्लेखनीय है संयुक्त राष्ट्र का अंतर्राष्ट्रीय संसदीय दिवस प्रति वर्ष 30 जून को अंतरसंसदीय संघ (आईपीयू) द्वारा राष्ट्रीय योजनाओं और रणनीतियों में संसद के महत्व को रेखांकित करने के लिए मनाया जाता है। इसे वर्ष 2018 में संयुक्त राष्ट्र महासभा के प्रस्ताव से स्थापित किया गया था।



यह गर्व की बात कि बानमोर का टायर विदेशों तक जा रहा : मुख्यमंत्री श्री चौहान

29 Jun 2023
मध्य प्रदेश अब बीमारू नहीं, विकसित राज्यों की पंक्ति में अग्रणी राज्य
मध्यप्रदेश अब देश में औद्योगिक निवेश का केंद्र-बिंदु
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया जेके टायर प्लांट बानमोर की क्षमता विस्तार के प्रथम चरण का उद्घाटन

भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि यह गर्व की बात है कि बानमोर का टायर विदेशों तक जाकर विदेशी मुद्रा से देश को आर्थिक रूप से और मज़बूत बना रहा है। जेके टायर इंडस्ट्रीज़ के बानमोर प्लांट का ग्वालियर-चंबल संभाग सहित प्रदेश एवं देश के आर्थिक विकास में बड़ा योगदान है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने केंद्रीय कृषि और किसान-कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर एवं केंद्रीय नागरिक उड्डयन और इस्पात मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ मुरैना के औद्योगिक क्षेत्र बानमोर में जेके टायर इंडस्ट्रीज के 312 करोड़ की लागत के मैन्यूफ़ैक्चरिंग फेसिलिटी क्षमता विस्तार के प्रथम चरण का उद्घाटन किया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज मध्य प्रदेश विकसित राज्यों की पंक्ति में अग्रणी राज्य है, हमारी औद्योगिक विकास दर लगातार 24 प्रतिशत बनी हुई है ।मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश में उद्योगों के लिए अनुकूल नीति, आवश्यक इंफ्रा-स्ट्रक्चर एवं सुरक्षित वातावरण करवाने से प्रदेश देश में उद्योगों के निवेश का केंद्र बिंदु बना हुआ है। ग्लोबल इंवेस्टर समिट में 15 लाख करोड़ से अधिक के औद्योगिक निवेश के अनुबंध हुए, जिसके परिणामस्वरूप विभिन्न उद्योगों का नियमित निवेश प्रदेश में आ रहा है और नवीन रोज़गार का सृजन हो रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम प्रदेश के युवाओं के स्किल डेवलपमेंट एवं रोज़गार में वृद्धि के हर संभव प्रयास कर रहे हैं। मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना प्रारंभ की जा रही है। योजना में युवाओं को विभिन्न उद्योगों में ट्रेनिंग दी जायेगी, विभिन्न ट्रेडों के दौरान उन्हें पात्रतानुसार 8 से 10 हज़ार रुपये का स्टायपेंड भी प्रदान किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री जी के भारत को 5 ट्रिलियन इकॉनोमी बनाने के लक्ष्य की पूर्ति की दिशा में हमने मध्यप्रदेश की इकॉनमी को 550 बिलियन का बनाने का लक्ष्य रखा है। इसमें उद्योगों की महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी। केंद्रीय कृषि एवं किसान-कल्याण श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि प्रदेश एवं देश के विकास में उद्योगों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। उद्योगों से नवीन रोज़गार का सृजन होता है,कराधान बढ़ता है जो प्रदेश और देश को आर्थिक रूप से मज़बूत करता है। जेके टायर इंडस्ट्रीज ने ग्वालियर-चंबल संभाग के आर्थिक विकास एवं बड़ी संख्या में रोज़गार देने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। केंद्रीय नागरिक उड्डयन एवं इस्पात मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व में 18 वर्षों में बीमारू राज्य के टैग को हटाकर आज प्रदेश विकसित राज्यों की पंक्ति में अग्रणी है। जेके टायर इंडस्ट्रीज़ ने प्रदेश के आर्थिक विकास में बड़ा योगदान दिया है एवं देश-दुनिया में नाम बनाया है। पूर्व मंत्री श्री रुस्तम सिंह, अल्पसंख्यक वित्त विकास निगम के अध्यक्ष श्री रघुराज कंसाना, ऊर्जा विकास निगम के अध्यक्ष श्री गिर्राज दण्डोतिया, विधायक श्री कमलेश जाटव और समाजसेवी श्री हमीर सिंह पटेल, उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने किया जेके टायर प्लांट का भ्रमण

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने केंद्रीय मंत्री द्वय श्री तोमर और श्री सिंधिया एवं जेके टायर इंडस्ट्रीज़ के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर श्री रघुपति सिंघानिया एवं श्री अंशुमन सिंघानिया के साथ प्लांट का भ्रमण किया।


ब्रिज बिजनेस चैंबर्स इंडस्ट्री फेडरेशन ने अपने बढ़ते कदमों में एक कदम और जोड़ा है
29 Jun 2023
भोपाल। ब्रिज बिजनेस चैंबर्स इंडस्ट्री फेडरेशन ने अपने बढ़ते कदमों में एक कदम और जोड़ा है अब ब्रिज के लिए प्रथम संरक्षक के रूप में श्री राजा बुंदेला जी का नाम जुड़ गया है। श्री राजा बुंदेला एक प्रसिद्ध फिल्म, थिएटर, निर्देशक, अभिनेता और टीवी कलाकार और नेशनल फेडरेशन ऑफ न्यू स्टेट्स (एनएफएनएस) के महासचिव हैं। वह वर्तमान में बुंदेलखण्ड विकास बोर्ड के उपाध्यक्ष, फिल्म विकास बोर्ड के सदस्य और बुन्देलखण्ड मुक्ति मोर्चा (स्थापना 1988) के अध्यक्ष हैं। राजा बुंदेला जी को कला में उनके योगदान के लिए कई पुरस्कार प्राप्त हुए हैं। इनमें प्रथा के लिए क्रिटिक्स अवॉर्ड, बेस्ट एक्टर यूपी फिल्म्स, नेशनल फेडरेशन ऑफ यूथ अवॉर्ड उल्लेखनीय हैं। बुंदेलखंड एकेडमी ऑफ सिनेमा, कल्चर एंड परफॉर्मिंग आर्ट्स (BACCPA ) के संस्थापक, स्वशासन (स्वराज) के अधिकार की मांग करने वाले बुंदेलखंड के 50 मिलियन लोगों के नेता के रूप में श्री बुंदेला जी की पहचान है । इस बात की पुष्टि ब्रिज बिजनेस चैंबर्स इंडस्ट्री फेडरेशन के संस्थापक निदेशक श्री पी. टेकवानी जी ने आज सभी सोशल मीडिया के माध्यम से की। उन्होंने बताया की ब्रिज बिज़नेस चैम्बर के लिए श्री बुंदेला जी का संरक्षक बनना गर्व का विषय है और पूरा ब्रिज परिवार उनका आभारी है।



गुंडे, बदमाशों में पुलिस का खौफ और आम जनता का पुलिस पर विश्वास होना जरूरी : मुख्यमंत्री श्री चौहान

29 Jun 2023
गुंडे, बदमाश और असामाजिक तत्वों पर कठोरता से कार्रवाई की जाये
सार्वजनिक स्थानों पर शराब पीने और नशा करने वालों पर त्वरित कार्यवाही करें
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की इंदौर की कानून-व्यवस्था की समीक्षा

भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज प्रातः इंदौर की कानून-व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गुंडे, बदमाश और असामाजिक तत्वों पर कठोरतम कार्यवाही करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि गुंडे, बदमाशों में पुलिस का खौफ रहे। आम जनता में पुलिस पर विश्वास होना जरूरी है। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक स्थानों पर शराब पीने और नशा करने जैसी गतिविधियों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस प्रकार की गतिविधियों में लिप्त व्यक्तियों पर तुरंत कार्यवाही की जाए।

मुख्यमंत्री निवास समत्व कार्यालय भवन में हुई बैठक में अपर मुख्य सचिव गृह श्री राजेश राजौरा, पुलिस महानिदेशक श्री सुधीर सक्सेना, एडीजी इंटेलीजेंस श्री आदर्श कटियार, ओ.एस.डी. मुख्यमंत्री श्री अंशुमान सिंह सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। इंदौर से कमिश्नर श्री पवन शर्मा, पुलिस कमिश्नर श्री मकरंद देउस्कर, कलेक्टर श्री टी. इलैया राजा सहित जिला प्रशासन के अधिकारी बैठक में वर्चुअली शामिल हुए।


प्रदेश में 33 सीएम राइज विद्यालयों के लिये 1335 करोड़ रूपये की स्वीकृति

28 Jun 2023
मुख्यमंत्री शहरी अधो-संरचना विकास योजना के लिये 1700 करोड़ रूपये की स्वीकृति
विद्युत वितरण कंपनियों के लिये 24 हजार करोड़ रूपये से अधिक सब्सिडी की स्वीकृति
दीनदयाल रसोई योजना में मिलेगा अब 5 रूपये प्रति थाली भोजन
मुख्यमंत्री श्री चौहान की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद के निर्णय
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज समत्व भवन में हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में प्रदेश में 33 सर्वसुविधायुक्त विद्यालयों के लिये अनुमानित लागत 1335 करोड़ 20 लाख रूपये में निर्माण किये जाने की स्वीकृति प्रदान की गई। सी.एम. राइज योजना के प्रथम चरण में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा 275 विद्यालय विकसित किये जा रहे हैं। इनमें से 33 विद्यालयों के निर्माण के लिये डी.पी.आर तैयार कर परियोजना परीक्षण समिति के समक्ष 20 मार्च 2023 को प्रस्तुत किये गये।

विद्युत वितरण कंपनियों के लिये 24 हजार करोड़ रूपये से अधिक सब्सिडी की स्वीकृति

मंत्रिपरिषद द्वारा वित्तीय वर्ष 2023-24 के लिये निर्धारित दरों में प्रदेश के घरेलू उपभोक्ताओं के लिये अटल गृह ज्योति योजना में स्वीकृत सब्सिडी एवं विभिन्न उपभोक्ता श्रेणियों को सब्सिडी देते हुए इसके एवज में विदयुत वितरण कंपनियों को सब्सिडी दी जाने की स्वीकृति प्रदान की गई। कंपनियों को विभिन्न श्रेणियों में 24 हजार 196 करोड़ 47 लाख रूपये की सब्सिडी स्वीकृति दी गई।

मुख्यमंत्री शहरी अधोसंरचना विकास योजना के लिये 1700 करोड़ रूपये की स्वीकृति

मंत्रि-परिषद् ने प्रदेश के समस्त नगरीय निकायों में अधो-संरचना विकास के लिए "मुख्यमंत्री शहरी अधोसंरचना विकास योजना" चतुर्थ चरण को दो वर्षों (वित्तीय वर्ष 2023-24 एवं 2024-25) के लिए राशि रू. 1700 करोड़ की स्वीकृति प्रदान की। योजना में सड़क निर्माण तथा अनुषांगिक कार्य, शहरी यातायात सुधार, नगरीय सौन्दर्यीकरण, सामाजिक एवं खेल अधोसंरचनाएँ, उद्यान विकास सम्बन्धी कार्यों के साथ ही निकाय के कार्यालय भवन निर्माण/ उन्नयन के कार्य किये जा सकेंगे। योजना का क्रियान्वयन विभागीय मार्गदर्शन में नगरीय निकायों द्वारा किया जायेगा। इस योजना के लागू किये जाने से, विभिन्न शहरों में आवश्यक अधोसंरचनाएँ उपलब्ध हो सकेंगीं।

6 जिलों में नवीन चिकित्सा महाविद्यालय स्थापित किये जाने की सैद्धांतिक स्वीकृति

मंत्रि-परिषद् द्वारा खरगोन, धार, भिण्ड, बालाघाट, टीकमगढ़ तथा सीधी जिलों में 100 एम.बी.बी.एस सीट प्रवेश क्षमता के नवीन चिकित्सा महाविद्यालय स्थापित किये जाने के लिये सैद्धांतिक सहमति प्रदान की गई है। चिकित्सा महाविद्यालय की स्थापना से क्षेत्र की जनता को तृतीयक स्तर की चिकित्सकीय सुविधाएँ उपलब्ध होने के साथ-साथ प्रदेश के छात्रों के लिये चिकित्सा क्षेत्र की 600 एम.बी.बी.एस. सीट की वृद्धि होगी।

भोज वेटलैंड की 1097.11 हेक्टेयर भूमि पर्यावरण वानिकी वनमंडल भोपाल को हस्तांतरित करने की स्वीकृति

मंत्रि-परिषद् ने भोज वेटलैंड भोपाल की 1097.11 हेक्टेयर भूमि जो वर्तमान में भोज वेटलैंड, प्रशासक राजधानी परियोजना प्रशासन, नगरीय विकास एवं आवास विभाग के आधिपत्य में है, में से बड़ा तालाब एवं उसके जल भराव क्षेत्र को छोड़कर और व्ही.आई.पी. रोड़ को 8 लेन करने हेतु नवीन एकरेखण में आने वाली भूमि को छोड़ कर शेष भूमि को संयुक्त सीमाकंन के पश्चात पर्यावरण वानिकी वनमंडल भोपाल कोहस्तान्तरित करने का निर्णय लिया है। यह भी निर्णय लिया है कि मध्यप्रदेश वृक्षों का परीक्षण (नगरीय क्षेत्र) अधिनियम 2001 की धारा 4 में प्रावधान अनुसार उक्त भूमि के भारसाधक वन क्षेत्रपाल को वृक्ष अधिकारी नियुक्त किया जाये। भविष्य में अन्य वृक्षारोपण क्षेत्रों को हस्तांतरित करने की स्थिति निर्मित होने पर मुख्य सचिव, संबंधित विभागों की आपसी सहमति से क्षेत्र हस्तांतरण करने के संबंध में निर्णय लेंगें।

दीनदयाल रसोई योजना में मिलेगा अब 5 रूपये प्रति थाली भोजन

प्रदेश के नगरीय क्षेत्रों में व्यवसाय एवं श्रम कार्यों के लिये ग्रामीण क्षेत्रों से जरूरतमंद व्यक्तियों और परिवारों का आगमन होता है। शासन द्वारा प्रदेश के 55 नगरीय निकायों के 119 रैन बसेरा/ आश्रय-स्थलों में इनके लिये अस्थाई आश्रय तथा दीनदयाल रसोई योजना के प्रथम चरण 07 अप्रैल, 2017 से प्रदेश के 51 नगरीय निकायों के 56 रसोई केन्द्रों में किफायती दरों पर पौष्टिक भोजन की व्यवस्था की गई है। कोविड-19 महामारी के समय रसोई केन्द्रों की महत्ता भी प्रदर्शित हुई। इसलिये 26 फरवरी, 2021 को रसोई योजना के द्वितीय चरण में 52 जिला मुख्यालयों तथा 06 धार्मिक नगरों मैहर, ओंकारेश्वर, महेश्वर, अमरकंटक, ओरछा एवं चित्रकूट में कुल 100 रसोई केंद्रों का संचालन आरंभ किया गया था। योजना में प्रत्येक जरूरतमंद को रूपये 10 प्रति व्यक्ति की दर से भोजन उपलब्ध कराया जाता है। अब तक 01 करोड़ 62 लाख थालियों का वितरण किया जा चुका है। योजना में पूर्व में स्थापित 100 रसोई केन्द्रों के अतिरिक्त, 20 नवीन स्थाई रसोई केन्द्र तथा ऐसे लोगों की मदद के लिये जो स्थाई रसोई केंद्रों पर नहीं पहुंच पाते हैं, उनके लिये 16 नगर निगमों तथा पीथमपुर एवं मण्डीदीप में कुल 25 नवीन चलित रसोई केन्द्र, इस प्रकार कुल 45 नवीन रसोई केन्द्र खोले जाने एवं मात्र रुपए 5 प्रति व्यक्ति की दर से रसोई में भोजन उपलब्ध कराने का निर्णय मंत्रि-परिषद द्वारा लिया गया है।

"प्राइस सपोर्ट स्कीम" में मंडी एवं निराश्रित शुल्क की छूट की स्वीकृति

मंत्रि-परिषद व्दारा केंद्र/राज्य शासन की संस्थाओं द्वारा भारत सरकार की "प्राइस सपोर्ट स्कीम" में प्रदेश के कृषकों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अधिसूचित कृषि उपज के उपार्जन पर मंडी शुल्क की छूट के साथ में निराश्रित शुल्क के भुगतान पर भी छूट प्रदान करने का निर्णय लिया गया। साथ ही प्राइस सपोर्ट स्कीम में वर्ष 2022 (विपणन मौसम 2022-23) में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उपार्जित ग्रीष्मकालीन मूँग एवं ग्रीष्मकालीन उड़द पर भी निराश्रित शुल्क में छूट प्रदान की गई है।

सिंचाई परियोजना के लिये 190 करोड़ रूपये की स्वीकृति

मंत्रि-परिषद द्वारा सीप-अम्बर काम्पलेक्स सिंचाई परियोजना फेस-2 लागत राशि 190 करोड़ 11 लाख रूपये सैंच्य क्षेत्र 13 हजार 457 हेक्टेयर की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई। परियोजना से सीहोर जिले की भैरूंदा तहसील के 24 ग्रामों की 13 हजार 457 हेक्टेयर सैंच्य क्षेत्र में सिंचाई सुविधा का लाभ प्राप्त होगा।

मध्यप्रदेश पुलिस स्वास्थ्य सुरक्षा योजना की निरंतरता को मंजूरी

मंत्रि-परिषद् द्वारा प्रदेश में 19 अगस्त 2013 से संचालित मध्यप्रदेश पुलिस स्वास्थ्य सुरक्षा योजना की महत्ता को देखते हुए योजना को 31 मार्च, 2019 के पश्चात से निरंतर बनाये रखते हुए आगामी पाँच वर्ष तक निरंतर संचालित किये जाने की स्वीकृति प्रदान की गई।

केला फसल क्षति की राहत राशि में वृद्धि

मंत्रि-परिषद द्वारा राजस्व पुस्तक परिपत्र खण्ड छ. क्रमांक 4 के परिशिष्ट-1 (एक) (ख) की तालिका में केले की फसल हानि पर वर्तमान में आर्थिक अनुदान सहायता के लिए निर्धारित मापदण्डों में संशोधन को मंजूरी दी गयी। केला की फसल में 25 से 33 प्रतिशत क्षति होने पर 30 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर अनुदान सहायता राशि, 33 से 50 प्रतिशत क्षति होने पर 54 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर अनुदान सहायता राशि एवं 50 प्रतिशत से अधिक क्षति होने पर 2 लाख रूपये प्रति हेक्टेयर अनुदान सहायता राशि करने की स्वीकृति दी गई। आर्थिक अनुदान सहायता राशि की अधिकतम देय सीमा 3 लाख रूपये के स्थान पर 6 लाख रूपये से अधिक नहीं होगी।

अन्य निर्णय

मंत्रि-परिषद द्वारा राजस्व विभाग की वार्ड क्र. 05, ग्राम- तिलिमाफ़ी, जिला सागर, स्थित पार्ट-बी भूमि परिसम्पत्ति जिसका खसरा क्रमांक 147/1/1/1/1 कुल रकबा 3000 वर्गमीटर के निर्वर्तन के लिये H-1 निविदाकार तथा वार्ड क्र 13, सुसनेर, जिला आगर मालवा, म. प्र. स्थित भूमि परिसम्पत्ति खसरा क्रमांक 1859/4, कुल रकबा 1760 वर्गमीटर के H-1 निविदाकार एवं कुटीर एवं ग्रामोद्योग की ब्लॉक-2, ग्राम एहसानपुरा, तहसील सारंगपुर, जिला-राजगढ़ भूमि परिसम्पत्ति सर्वे क्रमांक 58 कुल रकबा 8550 वर्गमीटर, के H-1 निविदाकार की संस्तुति करते हुए उसे विक्रय करने एवं निविदा राशि का 100% जमा करने के बाद अनुबंध / रजिस्ट्री की कार्यवाही जिला कलेक्टर द्वारा किए जाने का निर्णय लिया गया।


जल-संरक्षण और प्रबंधन में मध्य प्रदेश का देश में प्रथम आना महत्वपूर्ण उपलब्धि : मुख्यमंत्री श्री चौहान

28 Jun 2023
हम पानी की एक-एक बूंद का उपयोग करने के लिए प्रयासरत
मुख्यमंत्री श्री चौहान को जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट ने राष्ट्रीय जल पुरस्कार-2022 का प्रशस्ति-पत्र और प्रतीक-चिन्ह भेंट किया
मंत्रि-परिषद की बैठक के पहले मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया संबोधित

भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि देश में जल-संरक्षण और प्रबंधन में मध्यप्रदेश प्रथम स्थान पर है, यह बड़ी उपलब्धि है। मध्यप्रदेश कई क्षेत्रों में देश में प्रथम है, स्वच्छता में हम कुछ वर्षों से अग्रणी हैं। यह हम सबके लिए गर्व और गौरव का विषय है। प्रदेश में सिंचाई की क्षमता बढ़ी है, हम पानी की एक-एक बूंद का उपयोग करने के लिए कैनाल इरीगेशन के स्थान पर प्रेशराइज्ड पाइप से सिंचाई की व्यवस्था कर रहे हैं, इससे उपलब्ध पानी से पौने 2 गुना अधिक क्षेत्र में सिंचाई संभव हो रही है। साथ ही प्रदेश में जल- संरचनाओं का जाल बिछाया गया है। इन कार्यों के लिए ही भारत सरकार द्वारा मध्यप्रदेश को पुरस्कृत किया गया है। इस उपलब्धि के लिए जल संसाधन पंचायत एवं ग्रामीण विकास तथा नर्मदा घाटी विकास विभाग बधाई के पात्र हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान मंत्रि-परिषद की बैठक से पहले मंत्रीगण को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान को जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने केन्द्रीय जलशक्ति मंत्रालय से प्राप्त चतुर्थ राष्ट्रीय जल पुरस्कार-2022 का प्रशस्ति-पत्र और प्रतीक-चिन्ह भेंट किया।

जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट ने बताया कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व में जब से सिंचाई परियोजनाओं का निर्माण माइक्रो सिंचाई योजनाओं के रूप में किया जाने लगा है, तब से मध्यप्रदेश में पानी की अधिक बचत हो रही है। केन्द्रीय जल शक्ति मंत्रालय के जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण विभाग द्वारा जल-संरक्षण/प्रबंधन के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रयासों को सम्मानित करने के लिए सर्वश्रेष्ठ राज्य की श्रेणी में मध्यप्रदेश को प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया गया।


प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने रानी कमलापति स्टेशन से 5 वंदे भारत ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

27 Jun 2023
ट्रेन में यात्रा कर रहे बच्चों से की बात-चीत स्टेशन पर राज्यपाल, मुख्यमंत्री, वरिष्ठ मंत्रियों और जन-प्रतिनिधियों ने किया स्वागत
भोपाल।प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने आज रानी कमलापति रेलवे स्टेशन से 5 वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री ने इनमें से तीन वंदे भारत ट्रेन को वर्चुअल माध्यम से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने ट्रेन में यात्रा कर रहे बच्चों के साथ संवाद भी किया। बच्चों ने अपने प्रिय प्रधानमंत्री से खुलकर बातचीत की।

प्रधानमंत्री श्री मोदी आज एक दिवसीय प्रवास पर भोपाल आए। राजा भोज विमानतल पर उतरने के बाद श्री मोदी सड़क मार्ग से रानी कमलापति रेलवे स्टेशन पहुँचे। स्टेशन पर प्रधानमंत्री का राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय रेल मंत्री श्री अश्वनी वैष्णव, केंद्रीय कृषि और किसान-कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर, नागरिक उड्डयन और इस्पात मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री वीरेंद्र कुमार, सांसद श्री वी.डी. शर्मा, प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास सारंग सहित अन्य मंत्री गण एवं जन-प्रतिनिधियों ने हार्दिक स्वागत किया।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने रेलवे स्टेशन पर उपस्थित जन-समुदाय का अभिवादन किया। जन-समुदाय ने उत्साह के साथ प्रधानमंत्री का स्वागत किया। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने आज से आरंभ होने वाली वंदे भारत ट्रेन में यात्रा के लिए बैठे स्कूली बच्चों से भेंट कर भारत की प्रगति और उपलब्धियों, भविष्य के लक्ष्य के बारे में बात-चीत की। स्कूली बच्चों ने प्रधानमंत्री को आजादी के अमृत महोत्सव, विश्व में बनती भारत की प्रभावपूर्ण स्थिति पर केन्द्रित पेंटिंग्स तथा प्रधानमंत्री का हस्त निर्मित चित्र भेंट किया।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने जिन पाँच वंदे भारत रेलगाड़ी को हरी झंडी दिखाई वे हैं; भोपाल (रानी कमलापति)- इंदौर वंदे भारत एक्सप्रेस; भोपाल (रानी कमलापति)-जबलपुर वंदे भारत एक्सप्रेस; रांची-पटना वंदे भारत एक्सप्रेस; धारवाड़-बैंगलुरु वंदे भारत एक्सप्रेस और गोवा(मडगांव)-मुंबई वंदे भारत एक्सप्रेस। इनमें से अंतिम तीन को प्रधानमंत्री ने वर्चुअली हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

भोपाल (रानी कमलापति)- इंदौर, वंदे भारत एक्सप्रेस मध्यप्रदेश के दो महत्वपूर्ण शहरों के बीच सरल और त्वरित यात्रा की सुविधा प्रदान करेगी तथा क्षेत्र में सांस्कृतिक, पर्यटन एवं धार्मिक स्थानों की कनेक्टिविटी में सुधार लाएगी। वंदे भारत ट्रेन से भोपाल से इंदौर की 269 किलोमीटर की दूरी अब साढ़े तीन घंटे में तय हो जाएगी। भोपाल (रानी कमलापति)-जबलपुर वंदे भारत एक्सप्रेस महाकौशल क्षेत्र (जबलपुर) को मध्य प्रदेश के मध्य क्षेत्र (भोपाल) से जोड़ेगी। इसके अतिरिक्त, बेहतर कनेक्टिविटी से क्षेत्र के पर्यटन स्थलों को भी लाभ होगा। इस ट्रेन के चलने से भोपाल से जबलपुर की 340 किलोमीटर की दूरी अब साढ़े चार घंटे में ही तय हो जाएगी

रांची-पटना वंदे भारत एक्सप्रेस झारखंड और बिहार के लिए पहली वंदे भारत रेलगाड़ी होगी। पटना और रांची के बीच कनेक्टिविटी को बढ़ाने वाली यह रेलगाड़ी पर्यटकों, छात्रों और व्यवसायियों के लिए वरदान साबित होगी। धारवाड़-बैंगलुरु वंदे भारत एक्सप्रेस कर्नाटक-धारवाड़ और हुबली में महत्वपूर्ण शहरों को राज्य की राजधानी बैंगलुरु से जोड़ेगी। इससे क्षेत्र के पर्यटकों, छात्रों, उद्योगपतियों आदि को अत्यधिक लाभ प्राप्त होगा। गोवा (मडगांव)-मुंबई वंदे भारत एक्सप्रेस गोवा की पहली वंदे भारत एक्सप्रेस होगी। यह मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस और गोवा के मडगांव स्टेशन के बीच चलेगी। इससे गोवा और महाराष्ट्र दोनों के ही पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।


लोकतंत्र सेनानी सम्मान निधि 25 हजार से बढ़कर 30 हजार रूपए प्रतिमाह होगी : मुख्यमंत्री श्री चौहान

26 Jun 2023
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दीं कई सौगातें लोकतंत्र सेनानियों ने देश की आजादी की तीसरी लड़ाई लड़ी
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लोकतंत्र सेनानियों के राज्य स्तरीय सम्मेलन को संबोधित किया

भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आपातकाल में भी लोकतंत्र सेनानियों ने भारत माता का जयघोष किया। सत्ताधीशों ने अपने आप को सत्ता में बनाए रखने के लिए लोकतंत्र का गला घोंटा गया, परन्तु लोकतंत्र सेनानियों ने बिना परिणामों की परवाह किए यातनाएँ और कष्ट सहे। उन्होंने देश की आजादी की तीसरी लड़ाई लड़ी। इस संघर्ष का सम्मान हमारा कर्तव्य और धर्म है। मुख्यमंत्री श्री चौहान प्रदेश के लोकतंत्र सेनानियों के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि लोकतंत्र सेनानियों को प्रदान की जा रही 25 हजार रूपए की सम्मान निधि को बढ़ाकर 30 हजार रूपए प्रतिमाह किया जाएगा। जो लोकतंत्र सेनानी एक माह से कम अवधि के लिए बंदी रहे हैं, उनकी सम्मान निधि 8 हजार रूपए से बढ़ाकर 10 हजार रूपए की जाएगी। दिवंगतों के परिवारों को दी जाने वाली निधि भी 5 हजार से बढ़ाकर 8 हजार रूपए की जाएगी। लोकतंत्र सेनानियों को दिल्ली प्रवास के दौरान मध्यप्रदेश भवन में ठहरने की सुविधा होगी। जिलों के विश्राम गृह और रेस्ट हाऊस में वे 2 दिन तक 50 प्रतिशत शुल्क देकर रह सकेंगे। साथ ही सभी तरह की बीमारियों का सम्पूर्ण इलाज राज्य शासन द्वारा कराया जाएगा। शासकीय कार्यालयों में उनके साथ सम्मानजनक व्यवहार हो, इसके लिए विशेष निर्देश जारी किए जा रहे हैं। लोकतंत्र सेनानियों को राज्य शासन की ओर से ताम्रपत्र प्रदान किए गए थे, जिन्हें ताम्रपत्र मिलना शेष हैं उन्हें भी तत्काल ताम्रपत्र उपलब्ध कराए जाएंगे। लोकतंत्र सेनानी किसी भी तरह के कष्ट और परेशानी में अपने आप को अकेला न समझें, राज्य सरकार उनके साथ है।

लोकतंत्र बचाने की जिम्मेदारी हम सबकी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आपातकाल में कई परिवार तबाह हुए। यह वह दौर था जब कोई अपील- कोई वकील- कोई दलील नहीं सुनी जाती थी। लोकतंत्र सेनानियों ने एक सिद्धांत, विचारधारा और संगठन के लिए यातनाएं सहीं, यह उस विचार का सम्मान था, जिसने लोकतंत्र को बचाया। आज इसी विचारधारा का डंका पूरी दुनिया में बज रहा है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने भारत की शान को बढ़ाया है। वर्तमान में भी लोकतंत्र को बचाने की जिम्मेदारी हम सबकी है। जिनकी लोकतंत्र में आस्था नहीं है, जिनका भारतीय संस्कृति- मूल्यों और परम्पराओं से कोई लेना-देना नहीं है, उनसे सतर्क रहना जरूरी है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अपने संबोधन में बाबा नागार्जुन और श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपयी जी की कविताओं की पंक्तियों का उल्लेख भी किया।

देश की धरोहर हैं लोकतंत्र सेनानी

सामान्य प्रशासन मंत्री श्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि आपातकाल की स्थिति में लोकतंत्र सेनानियों के संघर्ष से बदलाव आया था। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ही मीसाबंदियों को सम्मान देने की पहल की। पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री विक्रम वर्मा ने कहा कि आपातकाल में लोकतंत्र सेनानियों और उनके परिवारों का मनोबल तोड़ने के लिए जो भी किया जा सकता था किया गया। सेनानियों के साथ-साथ उनके परिवारों ने जो परेशानियां झेलीं उसके लिए परिवार के सदस्य प्रशंसा और अभिनंदन के पात्र हैं। राष्ट्र को अधिक सबल बनाना हमारा संकल्प है और हम आज भी इस दिशा में कार्यरत हैं। पूर्व केंन्द्रीय मंत्री श्री सत्यनारायण जटिया ने कहा कि आपातकाल द्वारा लोकतंत्र को समाप्त करने की साजिश को ध्वस्त करने के लिए लगभग डेढ़ लाख लोगों ने आंदोलन किए और गिरफ्तारियां दीं। वह सत्य का सत्ता से संघर्ष था। लोकतंत्र को सार्थक करने के लिए बड़ी संख्या में लोग प्राण-प्रण से जुटे रहे। राज्य सभा सदस्य श्री कैलाश सोनी ने कहा कि लोकतंत्र सेनानी देश की धरोहर हैं। जिन्होंने देश और प्रजातंत्र की पुर्नस्थापना के लिए कार्य किया। मध्यप्रदेश पर्यटन विकास निगम के पूर्व अध्यक्ष श्री तपन भौमिक उपस्थित थे। वरिष्ठ अधिवक्ता श्री भरत चतुर्वेदी ने आभार माना। संचालन श्री सुरेंद्र द्विवेदी ने किया।

पुस्तक "मैं मीसाबंदी-आपातकाल व्यथा-कथा- 19 महीने" का किया विमोचन

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निवास परिसर में हुए सम्मेलन का दीप जला कर शुभारंभ किया। वंदे-मातरम गान तथा माँ भारती के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करने के बाद मुख्यमंत्री ने लोकतंत्र सेनानियों का अंगवस्त्रम पहना कर स्वागत किया तथा उन्हें प्रतीक चिन्ह भेंट किए। मुख्यमंत्री ने आपातकाल की कटु स्मृतियों पर श्री रमेश गुप्ता की पुस्तक "मैं मीसाबंदी-आपातकाल व्यथा-कथा- 19 महीने" का विमोचन किया।


मुख्यमंत्री श्री चौहान जल-प्रदाय योजनाओं के ठेकेदारों से करेंगे सीधा संवाद

26 Jun 2023
मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई म.प्र. जल निगम संचालक मंडल की बैठक
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जल निगम के कार्य लोगों की जिंदगी बदलने वाले हैं। अत: परियोजनाओं का कार्य अनुभवी एजेंसियों से ही कराया जाए। कार्य में विलम्ब न हो, यह सुनिश्चित करना आवश्यक है। जल-प्रदाय योजनाओं का कार्य कर रहे ठेकेदारों के साथ संवाद के लिए जुलाई के प्रथम सप्ताह में बैठक की जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान समत्व भवन में मध्यप्रदेश जल निगम के संचालक मंडल की बैठक को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जल-प्रदाय योजनाओं के क्रियान्वयन और संधारण में स्थानीय निवासियों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए योजनाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाना आवश्यक है। नए कायों का आंरभ कार्यक्रम कर किया जाए। परियोजनाओं के इंजीनियरिंग, निर्माण, परीक्षण, संचालन और रखरखाव से संबंधित विभिन्न बिंदु पर भी चर्चा हुई। बैठक में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री महेंद्र सिंह सिसोदिया, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री भूपेंद्र सिंह, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी राज्य मंत्री श्री बृजेंद्र सिंह यादव, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री संजय कुमार शुक्ला तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


शहडोल दौरे पर पहुँचे मुख्यमंत्री श्री चौहान, दिखे अलग अंदाज में

25 Jun 2023
प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के दौरे सबंधी व्यवस्था का जायजा लेने पहुँचे थे मुख्यमंत्री
भोपाल।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान रविवार को शहडोल दौरे पर थे, जहाँ उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में 27 जून को वीरांगना रानी दुर्गावती बलिदान दिवस के उपलक्ष्य में होने वाले कार्यक्रम सबंधी तैयारियों का जायजा लिया। मुख्यमंत्री श्री चौहान की संवेदनशीलता के तो सभी कायल हैं लेकिन तैयारियों का जायजा लेने के पश्चात उनका का एक अलग ही अंदाज देखने को मिला, जो भावनात्मक भी रहा और हृदयस्पर्शी भी। यही बात उन्हें अन्य राजनीतियों से अलग बनाती है।

मजदूरों के बीच पहुँचे सीएम

कार्यक्रम सबंधी तैयारियों का जायजा लेने के पश्चात मुख्यमंत्री श्री चौहान शहडोल के पकरिया गाँव में भरी दोपहरी में मजदूरों को काम करते देख उनके बीच पहुँच गए। मुख्यमंत्री को अपने बीच देख काम कर रहे मजदूरों के चेहरों पर खुशी और आनन्द का ठिकाना न रहा। उनके चेहरे पर खुशी झलक रही थी। मुख्यमंत्री ने मजदूर भाई-बहनों से चर्चा कर उनके हाल-चाल जान आत्मीय संवाद किया। मुख्यमंत्री ने मजदूरी कर रही बहनों से संवाद कर लाड़ली बहना योजना के बारे में जानकारी ली और फिर मजदूरों के साथ फोटो भी खिंचाईं।

मुख्यमंत्री ने पूछा- अम्मा कैसे दिए जामुन

सड़क के किनारे बैठकर जामुन बेच रही महिला को देख मुख्यमंत्री खुद को रोक न सके। पैदल सड़क पार कर जामुन बेच रही अम्मा के पास पहुँचे, जामुन चखे और उनके हाल- चाल भी जाने। इस दौरान जितनी खुशी और प्रसन्नता अम्मा के चेहरे पर झलक रही थी, उतने ही खुश मुख्यमंत्री भी दिखे। इस बीच मुख्यमंत्री ने वहाँ छोटे- छोटे बच्चों से भी बातें की।

फुटबॉल खेलते बच्चों के बीच मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री श्री चौहान मैदान में फुटबॉल खेल रहे बच्चों के बीच भी पहुँच गए और फुटबॉल खेलते बच्चों से आत्मीय मुलाकात की। उनके परिवार और खेल गतिविधियों के बारे में जानकारी ली। बच्चों के साथ ग्रुप फोटो भी खिंचवाया।

बहनों हमें गरीब नहीं, लखपति बनना है

मुख्यमंत्री गाँव में सड़क किनारे खड़ी महिलाओं के बीच भी पहुँचे और आजीविका मिशन की बहनों से संवाद किया। मुख्यमंत्री ने महिलाओं से बात करते हुए उनकी आर्थिक स्थिति की जानकारी ली और कहा कि "बहनों हमें गरीब नहीं रहना, लखपति बनना है।" इस वार्तालप के दौरान मुख्यमंत्री ने बहनों को लाड़ली बहना योजना की जानकारी देकर उनके खुश रहने की कामना की।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बुढार में प्रधानमंत्री के कार्यक्रमों की तैयारियों का लिया जायजा

25 Jun 2023
भोपाल।प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी 27 जून को शहडोल जिले के बुढार स्थित लालपुर तथा पकरिया में आयोजित कार्यक्रमों में शामिल होंगे। प्रधानमंत्री श्री मोदी लालपुर में विशाल जनजाति सम्मेलन में वीरांगना रानी दुर्गावती गौरव यात्रा का समापन और राष्ट्रीय सिकलसेल एनीमिया उन्मूलन अभियान का शुभारंभ करेंगे। ग्राम पकरिया में प्रधानमंत्री श्री मोदी फुटबाल खिलाड़ियों, पेसा एक्ट के लाभान्वितों, स्व-सहायता समूह की लखपति दीदियों तथा जनजाति समुदाय के प्रमुखों से संवाद करेंगे। दोनों कार्यक्रम स्थलों पर समुचित तैयारियाँ की जा रही हैं। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज अल्प प्रवास पर शहडोल के बुढार पहुँचकर दोनों कार्यक्रम स्थलों पर तैयारियों का जायजा लिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी की यात्रा प्रदेश के लिए गौरव की बात है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि सभी तैयारियाँ उत्कृष्ट हों। किसी तरह की कोर-कसर न रहे। बारिश की संभावना को देखते हुए ऐसी व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करें, कार्यक्रम में किसी तरह का व्यवधान न हो। कार्यक्रम स्थल पर विशिष्ट व्यक्तियों तथा आमजन के बैठने की समुचित व्यवस्था करें। प्रधानमंत्री श्री मोदी पकरिया में स्व-सहायता समूह की दीदियों से संवाद करेंगे। इसके लिए भी सभी व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करें। प्रधानमंत्री मिलेट मिशन के तहत आयोजित विशिष्ट भोज में श्रीअन्न से बने हुए व्यंजनों का जनजाति समुदाय के बंधुओं के साथ रसास्वादन करेंगे। विशिष्ट भोज की व्यवस्थाएँ भी सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री ने सुरक्षा संबंधी निर्देश भी दिए। निरीक्षण के दौरान खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री श्री बिसाहूलाल सिंह, जनजाति कार्य मंत्री सुश्री मीना सिंह, जिले के प्रभारी मंत्री एवं ग्रामीण विकास राज्य मंत्री श्री राम खेलावन पटेल, सांसद श्रीमती हिमाद्री सिंह, विधायक द्वय श्री जय सिंह मरावी, और श्रीमती मनीषा सिंह, स्थानीय जन-प्रतिनिधि, संभागायुक्त श्री राजीव कुमार शर्मा और आयुक्त जनसंपर्क श्री मनीष सिंह उपस्थित थे।


महिलाओं की आमदनी रू. 10 हजार प्रतिमाह करना हमारा संकल्प: मुख्यमंत्री श्री चौहान

24 Jun 2023
महिलाओं की जिंदगी बदलने का संदेश लेकर हम बहनों के बीच आए हैं मुख्यमंत्री लाड़ली बहना सम्मेलन-सह-आवासीय भू-अधिकार पत्र वितरण, कार्यक्रम में हुए शामिल महिलाओं की बढ़ी संख्या में मौजूदगी को बताया महिला शक्ति का जागरण मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री द्वय श्री तोमर व श्री सिंधिया के साथ किया 777 करोड़ से अधिक के विकास कार्यों का भूमि-पूजन और लोकार्पण महिलाओं का हुआ सम्मान, 7700 भू-अधिकार पत्रों और योजनाओं के मिले हितलाभ जेएएच में लगेगा सेंट्रलाइज्ड एसी सिस्टम
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि महिलाओं की जिंदगी बदलने का संदेश लेकर मैं अपनी बहनों के बीच आया हूँ। हम केवल लाड़ली बहना योजना तक ही सीमित नहीं रहेंगे, आजीविका मिशन के माध्यम से महिलाओं की आमदनी 10 हजार रूपए प्रतिमाह करना हमारा संकल्प है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ग्वालियर के मेला मैदान में भव्य मुख्यमंत्री लाड़ली बहना सम्मेलन-सह-मुख्यमंत्री आवासीय भू-अधिकार पत्र वितरण एवं विकास कार्यों के भूमि-पूजन/लोकार्पण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने सम्मेलन में बड़ी संख्या में महिलाओं की उपस्थिति को बहनों की ताकत का जागरण बताया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने केन्द्रीय कृषि एवं किसान-कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर और केन्द्रीय नागरिक उड्डयन एवं इस्पात मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ लगभग 777 करोड़ 35 लाख रूपए लागत के विकास कार्यों का भूमि-पूजन एवं लोकार्पण किया। साथ ही प्रतीक स्वरूप महिलाओं को शासकीय योजनाओं के हितलाभ एवं मुख्यमंत्री अवासीय भू-अधिकार पत्र वितरित किए। लाड़ली बहना सेना को कार्यालय की चाबी सौंपी और विभिन्न क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाली महिलाओं को सम्मानित किया। जिले की महिलाओं ने स्वयं के द्वारा बनाए गए उपहार भी मुख्यमंत्री श्री चौहान सहित अन्य अतिथियों को भेंट किये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने एक हजार बिस्तर के अस्पताल में सेट्रलाइज्ड एसी सिस्टम लगवाने की घोषणा की। मुख्यमंत्री लाड़ली बहना सम्मेलन में जिले के प्रभारी एवं जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, ऊर्जा मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री भारत सिंह कुशवाह, लोक निर्माण राज्य मंत्री श्री सुरेश धाकड़, लघु उद्योग विकास निगम की अध्यक्ष श्रीमती इमरती देवी, बीज एवं फॉर्म विकास निगम के अध्यक्ष श्री मुन्नालाल गोयल, मत्स्य विकास निगम के अध्यक्ष श्री सीताराम बाथम, नगर निगम सभापति श्री मनोज तोमर सहित अन्य जन-प्रतिनिधि मंचासीन थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि महिलाओं को सामाजिक, शैक्षणिक एवं आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिये सरकार ने मुख्यमंत्री लाड़ली लक्ष्मी योजना, मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना व लाड़ली बहना योजना जैसी क्रांतिकारी योजनाओं को मूर्तरूप दिया है। लाड़ली बहना योजना महिलाओं की जिंदगी बदलने के मंत्र की तरह है। प्रदेश की लगभग सवा करोड़ महिलाओं को 15 हजार करोड़ रूपए सरकार हर माह दे रही है। उन्होंने कहा कि लाड़ली बहना योजना की राशि धीरे-धीरे बढ़ा कर 3 हजार रूपए तक की जायेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं अन्य अतिथियों ने कन्या-पूजन, वीरांगना दुर्गावती के चित्र पर पुष्पांजलि एवं दीप प्रज्ज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। सांसद श्री विवेक नारायण शेजवलकर ने स्वागत उदबोधन में मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना को महिलाओं के जीवन में बड़ा बदलाव लाने वाला बताया। उन्होंने योजना लागू करने के लिए मुख्यमंत्री श्री चौहान का धन्यवाद व्यक्त किया।

हर गाँव में गठित होंगीं लाड़ली बहना सेनाएँ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के हर गाँव में महिलाओं को लाड़ली बहना सेना में संगठित किया जायेगा। छोटे गाँव की लाड़ली बहना सेना में 11 महिला सदस्य और बड़े गाँव में 21 महिलाएँ शामिल की जायेंगीं।

शेष महिलाओं का भी होगा पंजीयन, 21 से 23 वर्ष आयु वर्ग की महिलाओं को भी जोड़ेंगे

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना में जो महिलाएँ पंजीयन नहीं करा पाई हैं, उनका पंजीयन किया जायेगा। साथ ही अब न्यूनतम 21 वर्ष आयु वर्ग की महिलाओं को भी इस योजना से जोड़ा जायेगा। पहले इस योजना में 23 वर्ष न्यूनतम आयु थी। केन्द्रीय कृषि एवं किसान-कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में प्रदेश सरकार ने मध्यप्रदेश को बीमारू राज्य से विकसित राज्यों की श्रेणी में लाने के साथ-साथ महिला सशक्तिकरण के के लिये क्रांतिकारी कदम उठाए हैं। प्रदेश सरकार द्वारा शुरू किये गये। इन कदमों से प्रदेश में महिला– पुरूष लिंगानुपात में उल्लेखनीय सुधार हुआ है। महिला सशक्तिकरण के बिना देश का सशक्तिकरण असंभव है। इसे ध्यान में रखकर केन्द्र व राज्य सरकार ने महिलाओं के कल्याण के लिये कारगर योजनाएँ बनाई हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी एवं मुख्यमंत्री श्री चौहान जो कहते हैं उसे धरती पर उतारकर दिखाते हैं। महिलाओं के सामाजिक और आर्थिक सशक्तिकरण की दिशा में किए गए काम इस बात की पुष्टि करते हैं। केन्द्रीय नागरिक उड्डयन एवं इस्पात मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि केन्द्र एवं राज्य सरकार ने महिला शक्ति को आगे करने का काम किया है, जिससे नारी शक्ति अपनी प्रगति का मार्ग स्वयं तय कर सकती है। देश-प्रदेश में बेटियाँ अब बोझ नहीं रही हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू किए गए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम तथा मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा शुरू की गई लाड़ली लक्ष्मी, लाड़ली बहना एवं मुख्यमंत्री कन्या विवाह-निकाह योजना ने इसमें महती भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि ग्वालियर बदल रहा है। यहाँ एक हजार बिस्तर का अस्पताल, अंतर्राष्ट्रीय स्तर के हवाई अड्डा और रेलवे स्टेशन का निर्माण, एलीवेटेड रोड, पेयजल के लिये चंबल प्रोजेक्ट इत्यादि बड़े-बड़े काम मूर्तरूप ले रहे हैं। श्री सिंधिया ने आयुष्मान कार्ड, उज्ज्वला योजना, घर-घर शौचालय सहित हर घर में नल से पानी पहुँचाने के लिये सरकार द्वारा स्थापित जल जीवन मिशन सहित अन्य योजनाओं से आए बदलाव को भी रेखांकित किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं अन्य अतिथियों ने ग्वालियर जिले की जनपद पंचायत घाटीगाँव के ग्राम रेहट से आईं महिलाओं को “लाड़ली बहना सेना” के कार्यालय भवन की चाबी एवं भवन आवंटन पत्र सौंपा। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस कार्यालय भवन में बैठकर गाँव की महिलायें अपनी तरक्की की नई इबारत लिख सकेंगीं। उन्होंने सेना को कार्यालय भवन उपलब्ध कराने के लिये जिला प्रशासन की प्रशंसा की। मुख्यमंत्री श्री चौहान के लिये ग्राम सिकरोदी निवासी श्रीमती भावना मौर्य एवं श्रीमती सीमा स्वयं द्वारा तैयार सुंदर सा कुर्ता लेकर पहुँची थीं। उन्होंने जब यह उपहार मुख्यमंत्री श्री चौहान को भेंट किये तो वे भाव विभोर हो गए और कहा इसे हम अवश्य पहनेंगे।


लोकमाता अहिल्याबाई होल्कर का ग्वालियर में भव्य स्मारक बनाया जायेगा:मुख्यमंत्री श्री चौहान

24 Jun 2023
बेहटा बस स्टेण्ड का नाम अहिल्याबाई होल्कर होगा पाल, बघेल और धनगर समाज के कल्याण के लिये बोर्ड गठित होगा माँ अहिल्याबाई के जन्म-दिवस पर ऐच्छिक अवकाश रहेगा मुख्यमंत्री श्री चौहान ग्वालियर में पाल, बघेल और धनगर समाज के सम्मेलन में शामिल हुए
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हम सब लोकमाता अहिल्याबाई होल्कर के वंशज हैं। उनके लोक-कल्याण के लिए किये गये कार्यों को कभी भुलाया नहीं जा सकता। ग्वालियर में माँ अहिल्याबाई होल्कर का भव्य स्मारक बनाया जायेगा। बेहटा में बन रहे बस स्टेण्ड का नाम अहिल्याबाई होल्कर के नाम पर रखा जायेगा। साथ ही बघेल और धनगर समाज के कल्याण के लिये प्रदेश में एक बोर्ड गठित किया जायेगा, जिसके अध्यक्ष को केबिनेट मंत्री का दर्जा होगा। लोकमाता अहिल्याबाई के जन्म-दिवस पर ऐच्छिक अवकाश रहेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ग्वालियर के ग्रामीण क्षेत्र बेहटा में शनिवार को पाल, बघेल और धनगर समाज के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मैं लोकमाता अहिल्याबाई होल्कर के चरणों की सौगंध खाकर कहता हूँ कि समाज के कल्याण के लिये कोई कोर-कसर नहीं छोडूंगा। उन्होंने कहा कि पिछड़ी जातियों के हितार्थ कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन से निरंतर कार्य किया जाता रहेगा। बहनों के सशक्तिकरण और उनकी जिंदगी बदलने के लिये मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना का लाभ लाड़ली बहनों को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि पढ़ाई के लिये मेधावी छात्रवृत्ति के साथ पाल, बघेल, धनगर समाज के छात्र-छात्राओं को मेडिकल एवं इंजीनियरिंग की शिक्षा के लिये भी सभी सुविधाएँ उपलब्ध कराई जाएंगी। हिंदी भाषा में मेडिकल और इंजीनियरिंग की शिक्षा शुरू होने से गरीब समाज के विद्यार्थियों को लाभ मिलेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि देवी अहिल्याबाई के सुशासन के कार्यों को देश-दुनिया में याद किया जाता है।

देश देवी अहिल्याबाई होल्कर के न्याय और बलिदान को भुला नहीं पायेगा

केन्द्रीय कृषि एवं किसान-कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि हमारे देश में त्याग, तपस्या, बलिदान, न्याय और कर्म की पूजा होती है। देश देवी अहिल्याबाई होल्कर के न्याय और बलिदान को कभी भुला नहीं पाएगा। उन्होंने कहा कि ग्वालियर में बेहटा तिराहे पर माँ अहिल्याबाई की प्रतिमा स्थापित हो जाने से यह तिराहा अब अहिल्या तीर्थ बन गया है। केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर ने कहा कि देवी अहिल्याबाई होल्कर ने काशी विश्वनाथ मंदिर के विकास का भी अनुकरणीय कार्य किया है। बघेल समाज के उत्थान के लिये भी राज्य सरकार अनेक कार्य कर रही है।

माता अहिल्याबाई ने अत्याचारियों के विरूद्ध लड़ाई लड़ी

केन्द्रीय नागरिक उड्डयन एवं इस्पात मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि पाल एवं बघेल समाज के त्याग को देश की 140 करोड़ जनता कभी भूल नहीं पायेगी। उन्होंने अहिल्याबाई होल्कर के जन हित कल्याण के कार्य एवं सेवाओं का उल्लेख कर कहा कि उन्होंने पूरे विश्व को मानव-कल्याण का संदेश दिया। माता अहिल्याबाई ने रणभूमि में नेतृत्व करते हुए अत्याचारियों के विरूद्ध लड़ाई लड़ी। उन्होंने देश में आर्थिक प्रगति और आध्या और शक्ति को विकसित करने का काम किया। देश के विभिन्न स्थानों पर मंदिर और धर्मशालाओं का भी निर्माण कराया। केन्द्रीय मंत्री श्री सिंधिया ने कहा कि पाल, बघेल एवं धनगर समाज से उनका करीबी रिश्ता है। इस समाज से उनके पारिवारिक संबंध रहे हैं। उन्होंने कहा कि राजमाता विजयाराजे सिंधिया एवं कैलाशवासी माधवराव सिंधिया ने भी पाल, बघेल समाज के आध्यात्मिक उत्थान के लिए कार्य किए। उद्यानिकी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री भारत सिंह कुशवाह ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सर्वसमाज को विभिन्न क्षेत्रों में पहचान दिलाने के महत्वपूण कार्य किये हैं। उन्होंने सर्वसमाज के कल्याण, उत्थान और प्रगति के रास्ते खोलने के लिये कई योजनाएँ भी शुरू की हैं। पाल, बघेल और धनगर समाज के अध्यक्ष डॉ. राजेन्द्र पाल ने स्वागत भाषण दिया। मुख्यमंत्री श्री चौहान, केन्द्रीय कृषि एवं किसान-कल्याण मंत्री श्री तोमर, केन्द्रीय नागरिक उड्डयन एवं इस्पात मंत्री श्री सिंधिया और प्रदेश के उद्यानिकी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री भारत सिंह कुशवाह ने बेहटा में लोकमाता अहिल्याबाई होल्कर की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर नमन किया। प्रदेश के जल संसाधन मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, लोक निर्माण राज्य मंत्री श्री सुरेश धाकड़, उद्यानिकी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री भारत सिंह कुशवाह, सांसद श्री विवेक नारायण शेजवलकर, बघेल समाज और आयोजन समिति के अध्यक्ष डॉ. राजेन्द्र पाल सहित जन-प्रतिनिधि और बड़ी संख्या में ग्वालियर-चंबल अंचल के समाज बन्धु उपस्थित थे।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संयुक्त राष्ट्र लोक सेवा दिवस की शुभकामनाएँ दीं

23 Jun 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी लोक सेवकों को संयुक्त राष्ट्र लोक सेवा दिवस की शुभकामनाएँ दी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सोशल मीडिया पर जारी संदेश में देश की प्रगति, विकास और जन-कल्याण में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले सभी लोक सेवकों को बधाई दी है। उल्लेखनीय है कि वर्ष 2002 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में 23 जून को संयुक्त राष्ट्र लोक सेवा दिवस के रूप में नामित किया गया था। विकास में सार्वजनिक सेवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित करना इसका मुख्य उद्देश्य है।


वीरांगना रानी दुर्गावती ने स्वराज और स्व धर्म के लिए बलिदान दिया: मुख्यमंत्री श्री चौहान

22 Jun 2023
प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में विश्व में देश का मान-सम्मान बढ़ा है
देश और प्रदेश में हो रहा है चौतरफा विकास बालाघाट में सितंबर में होगा मेडिकल कॉलेज का भूमि-पूजन
अब भांजियों की तरह भांजों को भी मिलेगी स्कूटी मुख्यमंत्री ने बालाघाट से वीरांगना रानी दुर्गावती गौरव यात्रा का शुभारंभ किया
5 स्थानों से निकाली जाएगी गौरव यात्रा 27 जून को प्रधानमंत्री श्री मोदी शहडोल में करेंगे समापन

भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वीरांगना रानी दुर्गावती ने धर्म और स्वराज के लिए अपने प्राणों का बलिदान दिया। भारत के शौर्य और स्वाभिमान की प्रतीक वीरांगना रानी दुर्गावती की 'गौरव यात्रा' 5 स्थानों से निकाली जाएंगी, जो 26 जून को शहडोल पहुँचेंगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 27 जून को शहडोल में गौरव यात्रा का समापन करेंगे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज बालाघाट से वीरांगना रानी दुर्गावती की वीरता एवं बलिदान गाथा को जन-जन तक पहुँचाने के लिए गौरव यात्रा का शुभारंभ किया। बालाघाट से गौरव यात्रा को लेकर केंद्रीय इस्पात एवं ग्रामीण राज्य मंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते रवाना हुए। इस अवसर पर गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, बालाघाट जिले के प्रभारी तथा नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा और पर्यावरण मंत्री की हरदीप सिंह डंग, आयुष एवं जल संसाधन राज्य मंत्री श्री रामकिशोर नानो कावरे, पिछड़ा वर्ग आयोग अध्यक्ष श्री गौरीशंकर बिसेन, सांसद श्री ढाल सिंह बिसेन, राज्यसभा सदस्य श्रीमती कविता पाटीदार, श्रीमती पंकजा मुण्डे उपस्थित थे। रानी दुर्गावती गौरव यात्राएँ 4 अन्य स्थानों छिंदवाड़ा, दमोह के सिंगरामपुर, सीधी के धौहनी एवं यूपी के कलिंजर फोर्ट से आज प्रारंभ हुईं। यह यात्राएँ रानी दुर्गावती के जीवन से जुड़े सभी प्रमुख स्थानों से होकर गुजरेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में दुनिया में भारत का मान-सम्मान निरंतर बढ़ रहा है। नए शक्तिशाली और गौरवशाली भारत का निर्माण हो रहा है। आज का भारत प्रतिद्वंदी राष्ट्रों को मुँहतोड़ जवाब देने में सक्षम है। प्रधानमंत्री श्री मोदी की नीति है कि हम किसी को छेड़ेंगे नहीं, मगर कोई आँख दिखाता है, तो उसे छोड़ेंगे नहीं। भारत ने जिस प्रकार अत्यंत कम समय में कोविड का टीका बना कर सारी दुनिया को उपलब्ध कराया, यह मानवता की बड़ी सेवा है और इसके लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी धन्यवाद के पात्र है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि देश और प्रदेश में चारों ओर विकास हो रहा है, एक नया अध्याय लिखा जा रहा है। प्रदेश में पहले गड्डों में सड़क थी, सिंचाई के पर्याप्त साधन भी नहीं थे। आज गुणवत्ता पूर्ण सड़कों का जाल है और सिंचाई का रकबा लगातार बढ़ता जा रहा है। सरकार किसानों को हर तरह की सुविधा दे रही है। उन्हें 0% ब्याज पर फसल ऋण दिया जा रहा है। अब गर्मी की धान की भी हम समर्थन मूल्य पर खरीदी करेंगे। किसानों को दी जाने वाली सम्मान निधि की राशि भी अब वर्ष में 6 हजार रुपये कर दी गई है, 6 हजार रूपये केंद्र सरकार देती है, इस प्रकार अब किसान भाइयों को वर्ष में 12 हजार रूपये मिलेंगे। बालाघाट क्षेत्र का तेज गति से विकास हो रहा है। सितंबर में यहाँ मेडिकल कॉलेज का भूमि-पूजन किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना में एक हजार रूपये की राशि बहनों के खातों में अंतरित की जा रही है। आगामी समय में इस राशि को बढ़ाकर धीरे-धीरे 1250, 1500, 1750, 2000, 2250, 2500, 2750 और 3000 रूपये कर दिया जाएगा। प्रदेश में रोजगार के अधिक से अधिक अवसर उपलब्ध कराए जा रहे हैं। बड़ी संख्या में सरकारी पदों पर भर्ती की जा रही है। स्व-रोजगार योजनाओं का फायदा दिया जा रहा है और अब युवाओं के लिए मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना प्रारंभ की गई है। इसमें पढ़े-लिखे युवाओं को कार्य सीखने के साथ ही प्रतिमाह 8 हजार से 10 हजार रूपये तक मानदेय दिया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सरकार कक्षा 12वीं के मेधावी बच्चों को लैपटॉप दे रही है। विद्यालयों में प्रथम आने वाली भांजियों को स्कूटी दी जा रही है। अब सरकार ने निर्णय लिया है कि भांजों को भी स्कूटी दी जाएगी। सांसद श्री वी.डी. शर्मा ने कहा कि मध्य प्रदेश में सरकार हर गरीब के जीवन को बदलने का अभियान चला रही है। हर गरीब को सशक्त और सक्षम बनाना है। सेवा, सुशासन और गरीब कल्याण हमारी सरकार के प्रमुख लक्ष्य हैं। प्रदेश में हर गरीब के सर पर पक्की छत की व्यवस्था की गई है, साढ़े 3 करोड़ गरीबों को मकान उपलब्ध करा दिया गया है। बीमारी के इलाज के लिए आयुष्मान भारत योजना में निजी अस्पतालों में भी वर्ष में 5 लाख रूपये तक के इलाज की सुविधा दी जा रही है।


प्रधानमंत्री श्री मोदी का आगमन प्रदेश के लिए सौभाग्यशाली : मुख्यमंत्री श्री चौहान

22 Jun 2023
प्रधानमंत्री का 27 जून को भोपाल तथा शहडोल आगमन
भोपाल से प्रारंभ करेंगे दो वंदे-भारत ट्रेन
शहडोल में स्व-सहायता समूह की लखपति दीदियों, ग्राम सभा सदस्यों, गाँवों के फुटबाल खिलाड़ियों तथा जनजातीय प्रतिनिधियों से करेंगे चर्चा
शहडोल में होगा रानी दुर्गावती गौरव यात्राओं का समापन
प्रधानमंत्री श्री मोदी शहडोल में एक करोड़ आयुष्मान कार्डों का वितरण शुरू करेंगे
सिकल सेल एनीमिया उन्मूलन मिशन का होगा शुभारंभ

भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का 27 जून को मध्यप्रदेश आगमन हो रहा है। प्रधानमंत्री श्री मोदी भोपाल से 2 वंदे भारत ट्रेन प्रारंभ करेंगे, वे यहाँ बूथ कार्यकर्ताओं से संवाद भी करेंगे। साथ ही प्रधानमंत्री 27 जून को ही शहडोल के कार्यक्रमों में भाग लेंगे। वहाँ रानी दुर्गावती गौरव यात्राओं का समापन होगा और रानी दुर्गावती का बलिदान दिवस मनाया जाएगा। प्रधानमंत्री श्री मोदी दो अभियान लाँच करेंगे। सिकल सेल रोग से पीड़ित व्यक्तियों की स्क्रीनिंग और इलाज की व्यवस्था के लिए सिकिल सेल मिशन लाँच किया जाएगा। मध्यप्रदेश में एक करोड़ से अधिक आयुष्मान कार्ड बनकर तैयार हैं। प्रधानमंत्री द्वारा इन आयुष्मान कार्डों के वितरण का प्रारंभ प्रतीकात्मक रूप से किया जाएगा। इसी समय सभी हेल्थ वेलनेस सेंटर, पंचायतों तथा शहरों के वार्डों में कार्डों का वितरण होगा। उल्लेखनीय है कि आयुष्मान भारत अभियान में परिवार का इलाज पाँच लाख रूपये तक नि:शुल्क किया जाता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान श्यामला हिल्स स्थित उद्यान में मीडिया कर्मियों से चर्चा कर रहे थे।

स्व-सहायता समूह की दीदियों ने मेहनत और परिश्रम से अपनी स्थिति सुधारी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी 27 जून को शहडोल में सायं लखपति दीदियों से संवाद करेंगे। महिला स्व-सहायता समूह में जिन दीदियों की वार्षिक आय एक वर्ष में एक लाख रुपये से अधिक होती है, उन्हें लखपति दीदी कहा जाता है। दीदियों ने मेहनत और परिश्रम से अपनी आर्थिक स्थिति सुधारी है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में पेसा एक्ट लागू हुआ है, कई ग्राम सभाओं ने तेंदूपत्ता संग्रहण का कार्य किया है, ऐसी ग्राम सभाओं से भी प्रधानमंत्री श्री मोदी का संवाद होगा। प्रधानमंत्री श्री मोदी शहडोल के आस-पास गाँव-गाँव में सक्रिय फुटबाल क्लबों के सदस्यों से भी बातचीत करेंगे। साथ ही जनजातीय समाज के मुखियाओं से भी चर्चा करेंगे।

प्रधानमंत्री श्री मोदी के कार्यकाल के 9 वर्ष गौरवशाली, संपन्न, समृद्ध और शक्तिशाली भारत के निर्माण के वर्ष

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमारे यशस्वी प्रधानमंत्री श्री मोदी के कार्यकाल के 9 साल पूर्ण हुए हैं। इन 9 वर्ष में वैभवशाली, गौरवशाली, संपन्न, समृद्ध और शक्तिशाली भारत का निर्माण हुआ हैं। प्रधानमंत्री श्री मोदी का मध्यप्रदेश आगमन हम सबके लिए सौभाग्य का विषय है।


टेक्नो फ्रेंडली संवाद से स्वच्छता

21 Jun 2023
भोपाल।देश के सबसे स्वच्छ शहर के रूप में जब इंदौर का बार-बार जिक्र करते हैं तो मध्यप्रदेश को अपने आप पर गर्व होता है, मध्यप्रदेश के कई शहर, छोटे जिलों को भी स्वच्छ भारत मिशन के लिए केन्द्र सरकार सम्मानित कर रही है. साल 2022 में मध्यप्रदेश ने देश के सबसे स्वच्छ राज्य का सम्मान प्राप्त किया। स्वच्छता का तमगा एक बार मिल सकता है लेकिन बार-बार मिले और वह अपनी पहचान कायम रखे, इसके लिए सतत रूप से निगरानी और संवाद की जरूरत होती है. कल्पना कीजिए कि मंडला से झाबुआ तक फैले मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में बैठकर कैसे निगरानी की जा सकती है? कैसे उन स्थानों में कार्य कर रही नगरपालिका, नगर परिषद और नगर निगमों से संवाद बनाया जा सकता है? एकबारगी देखें तो काम मुश्किल है लेकिन ठान लें तो सब आसान है. और यह कहने-सुनने की बात नहीं है बल्कि प्रतिदिन मुख्यालय भोपाल में बैठे आला-अधिकारी मंडला हो, नीमच हो या झाबुआ, छोटे शहर हों या बड़े नगर निगम, सब स्थानों का निरीक्षण कर रहे हैं और वहां कार्य करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों, सफाई मित्रों (मध्यप्रदेश में सफाई कर्मियों को अब सफाई मित्र कहा जाता है) के साथ कई मर्तबा आम आदमी से भी संवाद करते हैं. ऐसी कवायद करने वाला देश का पहला राज्य मध्यप्रदेश है जिसने टेक्नोफ्रैंडली बनकर निरीक्षण और संवाद को नियमित बनाये रखा है. स्थानीय निकाय से मिली जानकारी के मुताबिक अब तक चार सौ से अधिक घंटे का स्वच्छता संवाद आयोजित हो चुका है और यह सिलसिला प्रतिदिन जारी है। इसके अतिरिक्त दिन में भी अनेक स्थानों से लोगों से सीधे चर्चा और अवलोकन का सिलसिला बना रहता है. कायदे से देखा जाए तो इस पूरी प्रक्रिया में पूरा लाव-लश्कर चाहिए और भारी-भरकम बजट लेकिन ‘दुनिया कर लो मु_ी’ में की तर्ज पर अधिकारी अपने-अपने लैपटॉप पर और प्रदेश भर के अधिकारी कर्मचारी लैपटॉप, डेस्कटॉप या मोबाइल पर एक-दूसरे के साथ जुड़ जाते हैं. किस शहर में स्वच्छता का आलम क्या है और वे क्या नया कर रहे हैं, यह दूसरे लोगों को भी पता चलता है. ऐसे ही अन्य लोगों के पास स्वच्छता को लेकर क्या प्लानिंग है, सब आपस में आइडिया शेयर करते हैं. इस टेक्नोफ्रेंडली प्रक्रिया ने शून्य बजट पर एक बड़े काम को बिना अतिरिक्त तनाव दिये पूरा किया जा रहा है. इसे आप कह सकते हैं कि टेक्नोफ्रेंडली होना मध्यप्रदेश की इस नयी स्वच्छता व्यवस्था के लिए एक वरदान की तरह है. मध्यप्रदेश में 413 नगर निगम, नगर पालिका और नगर परिषद हैं और इनमें हर दिन तीन चार सौ अधिकारी-कर्मचारी ऑनलाईन होते हैं. यह व्यवस्था अपने आप में अनूठा है और अन्य विभागों के लिए भी रोल मॉडल बन गया है. इसका परिणाम यह है कि अलसुबह से पूरे प्रदेश के नगर निगमों, नगर पालिका और नगर परिषदों के अधिकारी-कर्मचारी सक्रिय हो जाते हैं. इसके बाद संवाद का सिलसिला शुरू होता है. पिछले दिनों नजर में आयी कमियों को दूर किया गया कि नहीं किया गया और आने वाले दिनों में स्वच्छता के लिए क्या प्लान किये जा रहे हैं. सबके पास अपनी-अपनी प्लानिंग होती है और आला अफसरों के सवालों के जवाब भी. सबकुछ इतने सहज और सरल ढंग से हो रहा है कि जो काम कल तक पहाड़ की तरह लगता था, वह आज राई में बदल गया है. एक किस्म से सबकी दिनचर्या में शामिल हो गया है. यही नहीं, सुबह की मीटिंग के बाद दिन में जब किसी को जरूरत लगे बेखटके वह सवाल कर समाधान पा सकता है. इस टेक्नोफ्रेंडली सिस्टम में दिक्कतें कम और सुविधाएं अधिक हैं. इस बारे में आयुक्त, नगरीय प्रशासन श्री भरत यादव बताते हैं कि ‘प्रधानमंत्री जी ने जब देश में स्वच्छता अभियान का श्रीगणेश किया तो हम सबके लिए एक चुनौती थी. दूसरा स्वच्छ सर्वेक्षण देश के शहरों में स्वच्छता का काम्पीटिशन है, तो हमें हर लिहाज से बेहतर बनना होगा। फिर चाहे वो जमीनी व्यवस्था हो, अधोसंरचना हो या हमारा निगरानी और समाधान तंत्र। एक बार की जीत से उपजे उत्साह को हमने ताकत बनाया और तय किया गया कि सभी भागीदारों से नियमित संवाद किया जाए और उनकी समस्याओं के तत्काल समाधान भी दिए जाएं। ऐसे में हमें स्वच्छता संवाद का एक सुगम रास्ता सूझा. हमने मुख्यालय के अधिकारियों से विमर्श किया और हमारी टीम ने इसे सफल बना दिया। कई तरह के सुझाव आए और कई तरह की दिक्कतों का भी उल्लेख किया गया. हमारी टीम ने इतने बड़े प्रकल्प को शून्य बजट में प्लान किया, यह हमारी बड़ी सफलता है। सो हमने संभागवार अधिकारियों को जोड़ा और संवाद का सिलसिला शुरू किया.’ अब इस नियमित संवाद में आंतरिक चर्चा के अलावा नागरिकों और जनप्रतिधियों से भी शहरी स्वच्छता पर उनका फीडबैक लिया जाता है। आज आहिस्ता आहिस्ता इस माध्यम से प्रदेश के सभी छोटे बड़े नगरीय निकायों को टेक्नोफ्रैंडली सिस्टम का हिस्सा बना लिया और स्वच्छता अभियान की मॉनिटरिंग राजधानी भोपाल से नियमित रूप से की जा रही है। अब तक 400 घंटों से अधिक के 190 से अधिक संवाद सत्रों का आयोजन किया जा चुका है। संभवत: मध्यप्रदेश इकलौता राज्य है जिसने स्वयं आगे बढक़र टेक्नोफ्रेंडली सिस्टम को बनाया और इसके पॉजिटिव रिजल्ट हासिल किया. इस बारे में मिशन संचालक स्वच्छ भारत मिशन शहरी श्री अवधेश शर्मा का कहना है कि स्वच्छता अभियान में प्रशासनिक पहल की कसावट जितना जरूरी है, उतना ही जरूरी है नागरिकों की सहभागिता। हम इसी टेक्नोफ्रैंडली सिस्टम के माध्यम से संवाद कर उन्हें जागरूक करने का प्रयास कर रहे हैं। हम स्वच्छता के लिए बेहतर कार्य करने वाले व्यक्ति और संस्था को रोल मॉडल के रूप में प्रदेश के समस्त स्थानीय निकायों के बीच रखेंगे जिससे लोगों में प्रतिस्पर्धा की भावना उत्पन्न हो और प्रदेश को भविष्य में भी बेहतर परिणाम मिलें। इस प्रकल्प को क्रियान्वित करने वाली सलाहकार टीम केपीएमजी का कहना है कि टेक्नोफ्रेंडली सिस्टम की सबसे पहले जरूरत होती है समय की पाबंदी. और जब हम स्वच्छता जैसे विषय पर पहल करते हैं तो हम सब जानते हैं कि अलसुबह सफाई का कार्य होता है. जब हम टेक्नोफ्रेंडली सिस्टम में वीडियो कॉल पर सबकुछ अपनी आंखों से देखते हैं तो यह भ्रम भी दूर हो जाता है कि जो कुछ बताया जा रहा है, वह हकीकत में हो भी रहा है कि नहीं. यानि इस सिस्टम में हेरफेर की गुंजाईश बची नहीं है । इस प्रकार यह स्वच्छता संवाद ज्ञान प्रबंधन और क्षमतावर्धन का एक सशक्त माध्यम बनकर उभरा है। मध्यप्रदेश में स्थानीय निकाय के इन प्रयासों ने स्वच्छता अभियान को ना केवल नया स्वरूप दिया है बल्कि उस ढर्रे को तोडऩे का प्रयास किया है जिसमें बेहिसाब खर्च करने के बाद भी परिणाम शून्य आता था. टेक्नोफ्रेंडली सिस्टम से व्यवस्था को गति मिली है और अतिरिक्त बजट से भी विभाग मुक्त है. इसे एक पुरानी कहावत से जोड़ सकते हैं जिसमें कहा जाता था कि आम के आम, गुठली के दाम. अर्थात नए जमाने की टेक्रनालॉजी की आप चर्चा करते हैं लेकिन उसे अमलीजामा पहनाना नहीं आता था. स्वच्छ भारत मिशन, शहरी मध्यप्रदेश ने एक रास्ता दिखाया है कि कैसे आम आदमी के टैक्स के पैसों का सदुपयोग किया जा सकता है.
(लेखक वरिष्ठ पत्रकार और शोध पत्रिका समागम के संपादक हैं)


स्वस्थ तन-मन से समाज तथा राष्ट्र होता है समृद्ध : गृह मंत्री डॉ. मिश्रा

21 Jun 2023
नई सेंट्रल जेल भोपाल में किया सामूहिक योग
भोपाल।प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सम्मान में आज सम्पूर्ण विश्व खड़ा है। उन्हीं की बदौलत योग को सम्पूर्ण विश्व में स्वीकार और अंगीकार किया गया है। गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने यह बात अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर नई सेंट्रल जेल भोपाल में सामूहिक योग के बाद कही। जेल महानिदेशक श्री अरविंद कुमार, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री अशोक अवस्थी, डीआईजी जेल श्री संजय पांडे और श्री एम.आर. पटेल, एएसपी श्री अरविंद कुमार दुबे, जेल अधीक्षक श्री राकेश भांगरे ने भी योग किया। गृह मंत्री डॉ. मिश्रा ने सेंट्रल जेल के ऑडिटोरियम हॉल में लगभग 100 से अधिक बंदियों के साथ योग किया। जेल में लगभग 3 हजार बंदियों ने एक साथ योग किया। उन्होंने कहा कि आज विश्व के 180 देश एक साथ योग कर रहे हैं। यह प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में हमें हमारे देश के पुन: विश्व गुरू होने जैसा आभास दिला रहा है। योग से शरीर‍नीरोगी होता है, स्वस्थ तन में मन और मस्तिष्क स्वस्थ होते हैं। इससे ही स्वस्थ समाज और समृद्ध देश का निर्माण होता है।


योग आज वैश्विक पर्व बन गया है: उपराष्ट्रपति श्री जगदीप धनखड़
योग भारत की गरिमा एवं महिमा को अंतरराष्ट्रीय स्वीकृति
योग है जीरो प्रीमियम पर फुल हेल्थ इंश्योरेंस
योग के माध्यम से दुनिया भर में अच्छा केरियर
योग के माध्यम से स्वस्थ रहें, सुखी रहें और देश को हर हाल में सर्वोपरि रखें योग आज वैश्विक आंदोलन, ग्लोबल स्पिरिट बन गया है: प्रधानमंत्री श्री मोदी का वीडियो संदेश
योग से शारीरिक मानसिक और वैचारिक स्वास्थ्य: राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल
आज पूरा विश्व योगमय है: मुख्यमंत्री श्री चौहान
उपराष्ट्रपति श्री धनखड़, राज्यपाल श्री पटेल और मुख्यमंत्री श्री चौहान जबलपुर में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस कार्यक्रम में शामिल हुए हजारों लोगों के साथ किया योगाभ्यास


21 Jun 2023
भोपाल।उपराष्ट्रपति श्री जगदीप धनखड़ ने कहा है कि हमारा योग आज वैश्विक पर्व बन गया है. अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर आज विश्व के हर कोने में यह जीवंत हो रहा है. यह हर भारतीय के लिए गौरव का क्षण है और इसके लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी बधाई के पात्र हैं, जिन्होंने 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में योग को अंतरराष्ट्रीय मंच पर रखा. विश्व के 193 देशों ने इसका समर्थन किया. संयुक्त राष्ट्र द्वारा 11 दिसंबर 2014 को यह घोषणा की गई कि हर वर्ष 21जून अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जाएगा और इसी के साथ योग के लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी का भागीरथी प्रयास सफल हुआ.

उपराष्ट्रपति श्री धनखड़ ने कहा कि आज हम 9 वां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मना रहे हैं. प्रधानमंत्री श्री मोदी आज अमेरिका में यहां के समय के अनुसार सायं 5:30 बजे संयुक्त राष्ट्र संघ के प्रांगण में सामूहिक योग कार्यक्रम में भाग लेंगे, जिसमें दुनिया के 180 देश शामिल होंगे. यह भारत की गरिमा एवं महिमा को अंतरराष्ट्रीय स्वीकृति है. यह सारी दुनिया के लिए भारत के प्रति सकारात्मक बदलाव का प्रतीक है.

9वें अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस पर आज देश का मुख्य कार्यक्रम जबलपुर के गैरिसन ग्राउंड में आयोजित किया गया । यहॉं उपराष्ट्रपति श्री जगदीप धनखड़ की गरिमामय उपस्थिति में करीब 15 हजार लोगों ने एक साथ योगाभ्यास किया.

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका से अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का वीडियो संदेश दिया.

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि योग आज वैश्विक आंदोलन, ग्लोबल स्पिरिट बन गया है. उन्होंने कहा कि आज ऐतिहासिक और अभूतपूर्व अवसर है, जब भारत के आह्वान पर विश्व के 180 से अधिक देश संयुक्त राष्ट्र संघ के योग दिवस कार्यक्रम में सम्मिलित होंगे. आज समूचे विश्व में योग का कार्यक्रम "ओशन रिंग ऑफ योगा" आयोजित किया जा रहा है, इसमें करोड़ों लोग शामिल हो रहे हैं, पृथ्वी के दो ध्रुव जुड़ रहे हैं. जो पूरे विश्व को एक साथ जोड़े वह योग है. यह हमारी "वसुधैव कुटुंबकम" अर्थात सारा विश्व एक परिवार की संस्कृति है. योग से स्वास्थ्य, दीर्घायु, बल और सुख की प्राप्ति होती है. योग की उर्जा से चारों तरफ कल्याण होता है. योग हमें जीव मात्र की एकता का एहसास कराता है. यह प्राणी मात्र के प्रेम का आधार है. योग के जरिए हम अंतर्विरोधों, गतिरोध और प्रतिरोधों को खत्म कर सकते हैं. कर्मों में कुशलता ही योग है. अपने कर्तव्यों के प्रति समर्पण से योगसिद्धि मिलती है, योग के जरिए निष्काम कर्म होते हैं. उन्होंने पूरी दुनिया को योग दिवस की शुभकामनाएं दीं. उपराष्ट्रपति श्री धनखड़ ने कहा कि योग स्वस्थ्य जीवन की पूंजी है और स्वास्थ हमारी पूंजी.योग जीरो प्रीमियम पर फुल हेल्थ इंश्योरेंस है। हमें अपनी क्षमता को पूर्ण रूप से मानवता की सेवा के लिए लगाने के लिए स्वस्थ रहना आवश्यक है और स्वस्थ रहने के लिए योग आवश्यक है। पहला सुख निरोगी काया है. योग शरीर मन और आत्मा की एकता का प्रतीक है. उपराष्ट्रपति श्री धनखड़ ने कहा कि योग किसी एक जाति के लिए नहीं बल्कि संपूर्ण मानवता के कल्याण के लिए है. आज अच्छे स्वास्थ्य के साथ यह एक महत्वपूर्ण हुनर भी बन गया है, जिसके माध्यम से दुनिया भर में अच्छा केरियर बनाया जा सकता है. आज सारी दुनिया को अच्छे योग प्रशिक्षकों की आवश्यकता है. उपराष्ट्रपति श्री धनखड़ ने कहा कि आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर मां नर्मदा और रानी दुर्गावती की भूमि पर आकर और यहां योग कर मैं अभिभूत हूं। मेरे जीवन के ये सबसे यादगार पल है। योग एक दिन का नहीं है बल्कि हर दिन का है। यह विश्व एकता का प्रतीक है। यह भारत की वसुधैव कुटुंबकम की संस्कृति और विश्व के कल्याण की सोच का प्रतीक है। योग हजारों साल से हमारी संस्कृति का अभिन्न अंग रहा है। भारत में हो रही जी -20 समिट की थीम हमारी संस्कृति पर आधारित है "वन अर्थ, वन फ्यूचर एंड वन फैमिली"। उपराष्ट्रपति श्री धनखड़ ने कहा कि वर्ष 2047 तक भारत विश्व के सर्वोच्च शिखर पर होगा, विश्व गुरु होगा। इस दशक के अंत तक भारत विश्व की तीसरी बड़ी शक्ति होगा। वर्ष 2022 में विश्व के बड़े देशों की तुलना में भारत में लगभग 4 गुना डिजिटल ट्रांसफर हुआ। भारत में आज 70 करोड़ इंटरनेट यूजर हैं और हमारा डाटा कंजमशन अमेरिका और चीन से भी अधिक है। उन्होंने संदेश दिया कि योग के माध्यम से स्वस्थ रहें, सुखी रहें और देश को हर हाल में सर्वोपरि रखें। राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा कि योग से शारीरिक मानसिक और वैचारिक स्वास्थ्य मिलता है. योग शरीर, मन, आत्मा को जोड़ने का विधान है. यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को विकसित कर बीमारियों की रोकथाम करता है. इसने हमें वैश्विक आपदा कोविड से उबरने में मदद की है. यही वजह है कि संयुक्त राष्ट्र संघ ने इसे स्वीकार करके इसकी उपयोगिता सिद्ध की है. आज योग की पहचान पूरे विश्व में है. उन्होंने युवाओं से कहा कि उनके कैरिअर और जीवन में आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए योग सशक्त माध्यम साबित होगा. योग को अपने जीवन में अंगीकार करें, सात्विक एवं संतुलित आहार ग्रहण करें. योग के नियमित अभ्यास से विचारों में दुनिया के प्रति सकारात्मक बदलाव आयेगा। मुख्‍यमंत्री श्री चौहान कहा आज संस्कारधानी जबलपुर, प्रदेश, देश ही नहीं बल्कि संपूर्ण विश्व योगमय हो गया है और इसका श्रेय जाता है प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को, जो आज स्वयं संयुक्त राष्ट्र संघ में दुनिया लिए योग का नेतृत्व कर रहे हैं। योग की इस विधा को जन -जन तक पहुँचने का कार्य प्रधानमंत्री द्वारा किया जा रहा है. भारत की यह प्राचीन विधा विश्व कल्याण के लिए है. हज़ारों वर्ष पूर्व से अपनाई जा रही हमारी वसुधैव कुटुंबकम् की अवधारणा संदेश देती है कि सारी दुनिया हमारा परिवार है. मनुष्य को हमने जियो और जीने दो का संदेश दिया है, हमारे ऋषि मुनियों ने सर्वे भवन्तु सुखिनः के माध्यम से बताया है कि पहला सुख निरोगी काया है और इसके लिए योग से बड़ा साधन कोई नहीं है। उन्होंने महर्षि पतंजलि को प्रणाम करते हुए उनके अष्टांग योग का उल्लेख किया। मुख्‍यमंत्री ने कार्यक्रम में सभी का आह्वान किया कि हमें केवल योग दिवस पर योग नहीं करना है, बल्कि इसे अपनी जीवन शैली का हिस्सा बनाना है। यही ऊर्जा देश के विकास में लगानी है. स्वस्थ रहकर ही हम देश की सेवा कर सकते हैं। उन्‍होंने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री श्री मोदी और मैं प्रतिदिन योग करते है. प्रदेश सरकार ने फ़ैसला लिया है कि सभी विद्यालयों में योग की शिक्षा को अनिवार्य किया गया है। केंद्रीय आयुष मंत्री श्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि आज योग को वैश्विक स्तर पर नई पहचान मिली है। वर्ष 2014 से प्रारंभ हुई यह योग यात्रा आज भी जारी है इस यात्रा की उपलब्धि यह है कि इसमें जन सहभागिता अप्रत्याशित रूप से बढ़ी है। अब यह जन -आंदोलन का रूप धारण कर चुका है। श्री सोनोवाल ने कहा कि इस बार का अंतरराष्ट्रीय योग दिवस कई मायनों में विलक्षण है। इसमें ओशन रिंग, योग भारतमाला, योग सागरमाला जैसे कार्यक्रम भी होंगे। आर्कटिक से लेकर अंटार्कटिका महासागर तक के क्षेत्र में योग प्रदर्शन और प्रमुख मेरिडियन लाइन (Prime Meridian Line), उस पर पड़ने वाले और उस लाइन के आसपास के 40 से अधिक देशों में योग प्रदर्शन होगा। केंद्रीय इस्पात एवं ग्रामीण विकास राज्य मंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते, केंद्रीय जल शक्ति एवं खाद्य प्रसंस्करण उद्योग राज्य मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल, केंद्रीय आयुष तथा महिला एवं बाल विकास मंत्री डॉ मुंजपरा महेंद्रभाई, प्रदेश के आयुष (स्वतंत्र प्रभार) तथा जल संसाधन राज्य मंत्री श्री रामकिशोर "नानो" कावरे, सांसद श्री वीडी शर्मा, सांसद श्री राकेश सिंह, राज्‍यसभा सदस्‍य श्रीमती सुमित्रा बाल्मिकी, विधायक श्री अजय विश्‍नोई एवं श्री अशोक रोहाणी, श्री रामचन्द्र मिशन के अध्यक्ष श्री कमलेश पटेल "दाजी" भी गणमान्य अतिथियों में शामिल थे। गैरिसन ग्राउंड में देश के मुख्य कार्यक्रम का शुभारम्भ सुबह 6 बजे राष्ट्रगान से हुआ। कार्यक्रम स्थल पर एलईडी स्क्रीन के जरिये मंच से योग प्रशिक्षकों के प्रसारित सन्देश पर एक साथ योगाभ्यास हुआ । कार्यक्रम में भारत सरकार द्वारा तय कॉमन योगा प्रोटोकॉल के अनुसार योग की विभिन्न मुद्राओं एवं प्राणायाम का अभ्यास किया गया । गैरिसन ग्राउंड में देश के मुख्य कार्यक्रम के साथ अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पूरे प्रदेश में सामूहिक योगाभ्यास के कार्यक्रम सभी सार्वजनिक स्थलों, खुले मैदानों, उद्यानों, स्कूल-कॉलेजों एवं ऐतिहासिक तथा पुरामहत्व के स्थलों में भी आयोजित किये गये। ग्राम पंचायत स्तर तक गैरिसन ग्राउंड के राष्ट्रीय कार्यक्रम से दूरदर्शन और आकाशवाणी से प्रसारित संदेशों पर योगाभ्यास किया गया। इनमें समाज के सभी वर्ग ,सभी समुदाय और हर आयु वर्ग के लोग शामिल हुये। घर और आंगन में भी योग का अभ्यास लोगों ने किया. कार्यक्रम का देश भर में तथा विश्व के कई देशों में सीधा प्रसारण किया गया । कार्यक्रम में बड़ी संख्या में स्कूल और कॉलेज के छात्र, योग से जुड़ी संस्थाओं के योगाभ्यासी तथा सेना एवं होमगार्ड के जवानों ने सहभागिता की । कार्यक्रम में श्रवण एवं अस्थि बाधित दिव्यांग छात्र-छात्राओं, ट्रांसजेंडर्स तथा कैंसर एवं थैलीसीमिया की बीमारी से मुक्त हुये रोगियों ने भी समूह में योगाभ्यास किया। कार्यक्रम में उपराष्‍ट्रपति श्री जगदीप धनखड़ ने दिव्‍यांग योगाभ्‍यासी संजय चक्रवर्ती और मनोज कश्‍यप से भी मुलाकात की।


प्रदेश अध्यक्ष ने जबलपुर एवं प्रदेश संगठन महामंत्री ने प्रदेश कार्यालय में किया योग प्रदेश के हर बूथ पर सम्पन्न हुए योग कार्यक्रम

21 Jun 2023
भोपाल।अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर बुधवार को प्रदेश के प्रत्येक बूथ पर योग के कार्यक्रम आयोजित किए। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा ने जबलपुर में गेरिसन ग्राउंड आयोजित योग कार्यक्रम में शामिल होकर योग किया। साथ ही पार्टी कार्यकर्ता व आमजन से प्रतिदिन योग करने का आग्रह किया। वहीं पार्टी के प्रदेश संगठन महामंत्री श्री हितानंद जी ने भारतीय जनता पार्टी प्रदेश कार्यालय में आयोजित योग कार्यक्रम में भाग लिया। इस अवसर पर प्रदेश मंत्री श्री राहुल कोठारी, प्रदेश कार्यालय मंत्री डॉ. राघवेन्द्र शर्मा, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री आशीष अग्रवाल, वरिष्ठ नेता श्री तपन भौमिक, पूर्व सांसद श्री आलोक संजर, श्री सुनील पांडे, श्री सत्यनभूषण सिंह, श्री सुरजीत सिंह चौहान, श्री विकास बोंदिया, श्री सत्यनभूषण सिंह, श्री सुरजीत सिंह चौहान, श्री संतोष शर्मा, श्री रामदयाल प्रजापति, श्री साबर आलम सहित पार्टी के पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित रहे। वहीं प्रदेश के विभिन्न शिक्षण संस्थानों, सामाजिक संस्थाओं एवं सार्वजनिक उद्यानों में आयोजित कार्यक्रमों में पार्टी के पदाधिकारी एवं जनप्रतिनिधियों ने भाग लेकर योग किया।

आज पूरे विश्व में फहरा रही योग की यश-पताकाः हितानंद जी

इस दौरान पार्टी के प्रदेश संगठन महामंत्री श्री हितानंद जी ने योग दिवस की शुभाकामनाएं देते हुए सभी से नियमित योग करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि यूं तो अनादिकाल से ही योग भारतीय संस्कृति का एक महत्वपूर्ण अंग रहा है। किसी भी धार्मिक अथवा आध्यात्मिक साधना की सिद्धि से पूर्व योगाभ्यास द्वारा शरीर को साधने का कार्य योग द्वारा किया जाता है। महर्षि पतंजलि सहित अनेक योगशास्त्रियों ने योग के सरलीकरण का समहनीय कार्य किया, ताकि आम जनमानस के लिए योग सुलभ हो सके। वर्तमान कालखण्ड में भारत के गौरव की यश-पताका को निरन्तर विश्व में लहराने वाले यशस्वी प्रधानमंत्री मोदी जी ने इस भारतीय ज्ञान-मनीषा को समूची दुनिया में लोकप्रिय एवं नवीन पहचान दिलाने का कार्य किया है। आज पूरा विश्व योग के साथ ही भारत के वैभव और निरन्तर प्रगति की मुक्त कंठ से प्रशंसा कर रहा है। मोदी जी के प्रयासों से ही आज विश्व योग दिवस मनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी अमेरिका की यात्रा पर हैं। प्रधानमंत्री जी की अमेरिकी यात्रा के दौरान विश्व की दो महत्वपूर्ण शक्तियों का मिलन, दोनों देशों के अतिरिक्त अनेक समस्याओं से ग्रस्त विश्व के लिए भी उम्मीद की किरण जैसा है। इस योग दिवस के सुअवसर पर यह कामना करते हैं कि विभिन्न आपदाओं से घिरे हुए विश्व की विभिन्न समस्याओं का समाधान इस योग दिवस के दुर्लभ संयोग में प्राप्त हो और योग के माध्यम से हम सभी आरोग्य एवं सम्पन्नता को प्राप्त करें।


ब्लाइंड क्रिकेट खिलाड़ियों ने असंभव को संभव कर दिखाया - मुख्यमंत्री श्री चौहान

20 Jun 2023
मुख्यमंत्री ने कॉन्क्लेव फॉर सोशल चेंज इन डिसेब्लड के उद्घाटन सत्र को किया संबोधित क्रिकेट एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड मध्यप्रदेश का आयोजन
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने क्रिकेट एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड (मध्यप्रदेश) के कॉन्क्लेव फॉर सोशल चेंज इन डिसेब्लड में कहा है कि ब्लाइंड क्रिकेट खिलाड़ियों ने असंभव को भी संभव करके दिखा दिया है। इन खिलाड़ियों ने अपनी एकाग्रता से यह सिद्ध कर दिया है कि वे क्रिकेट को नई ऊँचाइयों तक ले जा सकते हैं। ये खिलाड़ी मन की आँख से देखते हैं। इनका व्यक्तित्व, मन एवं विचार शुद्ध और पवित्र हैं। ईश्वर ये यही प्रार्थना है कि इन खिलाड़ियों का जीवन स्नेह, प्रेम और आत्मीयता से भरा रहे। मुख्यमंत्री श्री चौहान कुशाभाऊ ठाकरे सभागार में कॉन्क्लेव के उद्घाटन सत्र को संबोधित कर रहे थे। परम वीर चक्र विजेता श्री योगेन्द्र सिंह यादव, क्रिकेट एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड इंडिया के राष्ट्रीय कैप्टन डॉ. महन्तेश जी.के. और क्रिकेट एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड (मध्यप्रदेश) के डॉ. राघवेन्द्र शर्मा उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रतिभागियों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि 'मन के हारे हार है-मन के जीते जीत।' हमें सकारात्मक रहते हुए आत्म-विश्वास के साथ जीवन के सभी क्षेत्र में कर्मरत रहना चाहिए। उन्होंने खेल सहित जीवन के सभी क्षेत्र में प्रतिभागियों की सफलता और सुखी जीवन की कामना की।


मानव जीवन के समग्र विकास का उपक्रम है योग : स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री श्री परमार

20 Jun 2023
देश को विश्वमंच में सिरमौर बनाने में योग का महत्वपूर्ण योगदान राष्ट्रीय योग ओलंपियाड-2023 संपन्न
भोपाल।योग हजारों साल पुरानी विधा है। यह केवल शारीरिक विकास ही नहीं बल्कि मानव जीवन के समग्र विकास का उपक्रम है। योग ने जीवन जीने के पद्धति विकसित की है। मनुष्य का प्रकृति के साथ संबंध का भाव योग से ही प्रारंभ हुआ है। श्रेष्ठ पद्धति से श्रेष्ठ जीवन जीने का उपक्रम योग ही है। यह बात स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री श्री इन्दर सिंह परमार ने आज रविंद्र भवन, भोपाल में एनसीईआरटी (राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद, नई दिल्ली) द्वारा आयोजित राष्ट्रीय योग ओलंपियाड 2023 के समापन समारोह में कही। राज्य मंत्री श्री परमार ने कहा कि यहाँ लघु भारत का दृश्य दिख रहा है। हमारा संकल्प देश को एकात्मकता के भाव के साथ एक करना है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने योग को पुनः उच्च स्थान दिलाया है। आज योग भारत ही नहीं विश्व भर में प्रसिद्धि पा रहा है। हम प्रदेश के स्कूली शिक्षा पाठ्यक्रम में योग को शामिल कर रहे हैं। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के अनुरूप भारतीय शिक्षा दर्शन, गौरवशाली सांस्कृतिक विरासत, परंपराओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के साथ सही संदर्भ में बच्चों तक पहुँचायेंगे। उन्होंने कहा कि देश को विश्व में सिरमौर बनाने में योग का महत्वपूर्ण योगदान होगा। संकल्प लेकर आगे बढ़े कि हम वैभवशाली, गौरवशाली, सर्वसंपन्न, सर्वशक्तिशाली एवं दुनिया का भरण पोषण करने वाले विश्वगुरु भारत के पुनर्निमाण के चित्रकार हैं। आजादी के शताब्दी वर्ष 2047 में ज्ञान के क्षेत्र में भारत विश्वमंच पर विश्वगुरु होगा। राज्य मंत्री श्री परमार ने तीन दिवसीय योग ओलंपियाड में प्रतिभागिता कर विजयी हुए बच्चों को पुरुस्कार वितरण भी किया। निदेशक एनसीईआरटी प्रो. दिनेश प्रसाद सकलानी एवं समन्वयिका श्रीमती गौरी श्रीवास्तव सहित देश भर के विभिन्न राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों से आए 600 से अधिक प्रतिभागी बच्चे एवं उनके गुरुजन उपस्थित रहे। संयुक्त निदेशक डॉ. दीपक पालीवाल ने आभार माना।


प्रदेश में जनजातीय कला, संस्कृति और विरासत को सहेज कर रखा जाएगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान

19 Jun 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में जनजातीय कला, संस्कृति और विरासत को सहेज कर रखा जाएगा। जनजातीय नायकों की मूर्तियाँ स्थापित करने के कार्य में कमी नहीं रहने दी जाएगी। समाज के गौरव और सम्मान के हरसंभव प्रयास किए जाएंगे। प्रदेश में वीरांगना रानी दुर्गावती की गौरव यात्रा निकाली जाएगी, जिसमें जनजातीय वर्ग की बढ़-चढ़-कर भागीदारी होगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान निवास कार्यालय में जनजातीय समाज के लोगों और समाज के सेवानिवृत्त अधिकारी-कर्मचारियों से चर्चा कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि ईश्वर ने धरती के संसाधन सभी के लिए बनाए हैं। प्राकृतिक संसाधनों पर सभी का हक है। सामाजिक समरसता और समन्वय के साथ गरीबों को न्याय मिले, इसके लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है। जनजातीय क्षेत्र में एक समय में स्कूल और छात्रावासों का अभाव था। अब व्यापक स्तर पर स्कूल, छात्रावास, कॉलेज जगह-जगह खोले गए हैं। बेटियाँ शाला जाकर पढ़ नहीं पाती थीं, इस बात को ध्यान में रखते हुए हमने वर्ष 2006-07 में बेटियों को साइकिल देने का अभियान शुरू किया। इसके बाद बेटों को भी साइकिल देना शुरू हुआ। बड़ी संख्या में बच्चों ने स्कूल, कॉलेज जाना शुरू किया। अब बड़ी संख्या में बेटा-बेटी उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं।

विकास की दौड़ में पीछे रह गए लोगों को बराबरी पर लाएंगे

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा जी का पानी विभिन्न जिलों में पहुँचाया गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में कपिलधारा के कूप व्यापक स्तर पर खुदवाए गए हैं। सिंचाई की सुविधा बढ़ने से अच्छी फसल पैदा होने लगी है। सिंचाई के साधनों का लगातार विस्तार किया जा रहा है। विकास की दौड़ में पीछे रह गए लोगों को बराबरी पर लाया जाएगा। पेसा नियम लागू किया गया है। जनजातीय क्षेत्रों में गौण खनिजों पर पंचायतों को अधिकार दिया गया है। पेसा नियम के प्रत्येक प्रावधान को लागू किया जा रहा है। पेसा नियम महत्वपूर्ण साबित हो रहा है। लोगों की समस्याओं के निराकरण के लिए प्रदेश में मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान चलाया गया है। रोजगार और स्वयं का व्यवसाय स्थापित करने के लिए युवाओं के लिए सब्सिडी की व्यवस्था की गई है। प्रदेश में एक लाख पदों पर भर्ती जारी है, 50 हजार पदों पर भर्ती और होगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जनजातीय समाज के कल्याण के लिए विभिन्न योजनाएँ संचालित की गई हैं। बैगा, भारिया, सहरिया जनजाति की महिलाओं को पोषण आहार अनुदान की व्यवस्था की गई है। मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना से सामाजिक क्रांति आ रही है। मुख्यमंत्री सीखो-कमाओ योजना में युवाओं को प्रशिक्षण और भत्ता देने की योजना बनी है। प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, मुख्यमंत्री उद्यम क्रान्ति योजना जैसी कई योजनाएँ चल रही हैं। विदेशों में अध्ययन, नीट की परीक्षा आदि के लिए सुविधा प्रदान की जा रही है। अब मेडिकल और इंजीनियर की पढ़ाई हिन्दी में होगी। यह क्रांतिकारी फैसला है। आज लगभग 46 लाख बेटियाँ लाड़ली लक्ष्मी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना में प्रदेश की सवा करोड़ बहनों को 1000 रूपए दिए जाएंगे, जो धीरे-धीरे 3 हजार तक पहुँच जाएंगे। मेरी संकल्पना है कि हर बहन लखपति बने। उन्होंने समाज के लोगों से कहा कि आमआदमी के कल्याण की योजनाओं का समुचित लाभ दिलाने के लिए मिलकर काम करें। बहनों के कल्याण की योजनाओं का लाभ ठीक ढंग से दिलाने के लिए लाड़ली बहना सेना बनाई जा रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सरकार और प्रशासन के बीच की कड़ी बनकर शासन की योजनाओं के क्रियान्वयन में सहयोग कर अपना जीवन अर्थपूर्ण बनाएँ। टीम बनाकर विभिन्न व्यवस्थाओं पर नजर रखी जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान को जनजातीय समाज के लोगों ने तीर-कमान और पुष्प-गुच्छ भेंट किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान को साफा बाँध कर स्वागत किया गया। कार्यक्रम में समस्त जिलों के जनजातीय समाज के लोग उपस्थित थे।


निवेश और रोजगार के सशक्त माध्यम हैं एम.एस.एम.ई. : मुख्यमंत्री श्री चौहान

19 Jun 2023
मुख्यमंत्री ने सफल उद्यमियों को एमएसएमई अवार्ड से नवाजा
राज्य सरकार और प्रतिष्ठित कम्पनी एवं संस्थाओं के मध्य हुआ एमओयू
उद्यमी,उद्योगपति, स्टार्टअप्स, तकनीकी विशेषज्ञ, वित्तीय संस्थान हुए समिट में शामिल मुख्यमंत्री ने किया राज्य-स्तरीय एमएसएमई समिट का शुभारंभ

भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आत्म-निर्भर भारत के लिए आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण का जो रोडमेप हमने बनाया है, उसके रोम-रोम में सशक्त औद्योगिक परिदृश्य के निर्माण और रोजगार सृजन की भावना रची-बसी है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में 21वीं सदी के आत्म-निर्भर भारत बनाने का जो यज्ञ चल रहा है, उसमें बड़े उद्योगों की भूमिका जितनी अहम है, उतना ही महत्व सूक्ष्म, लघु और मध्यम श्रेणी के उद्यमियों का भी है। युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने में इन उद्यमियों की भूमिका बहुत अधिक महत्वपूर्ण है, यह स्थानीय स्तर पर निवेश और रोजगार के अवसर सृजित करने के सशक्त माध्यम हैं। स्थानीय परिवेश-स्थानीय संसाधनों पर कार्य करने वाली इन इकाइयों की सहायता और विकास के लिए राज्य सरकार हरसंभव सहयोग प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। इसी उद्देश्य से आज हो रही समिट का ध्येय वाक्य "आर्थिक विकास के शुभ संयोग-मध्यप्रदेश के सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग" रखा गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने होटल आमेर ग्रीन भोपाल में राज्य स्तरीय एमएसएमई समिट का शुभारंभ किया। भोपाल महापौर श्रीमती मालती राय विशेष रूप से उपस्थित थी। समिट में अनेक उद्योग परिसंघ के पदाधिकारी, बड़े औद्योगिक घराने, नव उद्यमी, केन्द्र और राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दीप प्रज्ज्वलित कर समिट का शुभारंभ किया। मध्यप्रदेश में एमएसएमई की भूमिका पर लघु फिल्म का प्रदर्शन किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सफल उद्यमियों को एमएसएमई अवार्ड प्रदान किए और राज्य सरकार एवं देश की प्रतिष्ठित कंपनी और संस्थानों के बीच एम.ओ.यू का आदान-प्रदान भी हुआ। प्रदेश के सभी जिले कार्यक्रम से वर्चुअली जुड़े।

नीतियों में सुधार के बिन्दुओं को सरकार से साझा करें उद्यमी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मध्यप्रदेश की समृद्धि और विकास के भागीदार हैं। हम मिल-जुल कर कैसे आगे बढ़ सकते हैं, इस पर विचार-विमर्श के लिए यह समिट की गई है। सफलता के लिए उत्साह सबसे आवश्यक है। आप सकारात्मक सोच के साथ ईज ऑफ डूईंग बिजनेस का लाभ उठाते हुए आगे बढ़ें। सरकारी नीतियों में जहाँ सुधार की आवश्यकता हो, उन बिन्दुओं को सरकार के साथ साझा करें। जो भी बेहतर होगा उसे क्रियान्वित किया जाएगा। हम मिल कर काम करेंगे और मध्यप्रदेश को आगे बढ़ाएंगे। प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेृतत्व में भारत को विश्व में अग्रणी बनाने के लिए हम सब प्रतिबद्ध हैं।

मुख्यमंत्री सीखो कमाओ योजना के क्रियान्वयन में सहयोग करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि स्व-रोजगार और छोटे उद्योगों को सहायता के लिए प्रदेश में 12 योजनाएँ संचालित हैं। मुख्यमंत्री सीखो कमाओ योजना भी लागू की जा रही है, जिसमें 700 कार्य चिन्हित किए गए हैं। उद्यमी इस योजना से जुड़ें, युवाओं को जोड़ें, उन्हें दक्ष बनाएँ और योजना का लाभ उठाएँ। यह योजना उद्यमियों, रोजगार के इच्छुक युवाओं के लिए उपयोगी और मध्यप्रदेश को सक्षम एवं आत्म-निर्भर बनाने के लिए प्रभावी है।

उद्योगों की आवश्यकता के अनुरूप हैं शासन की नीतियाँ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हर स्तर के उद्योगों की आवश्यकता के अनुरूप नीतियाँ और योजनाएँ बनाकर उनका क्रियान्वयन किया जा रहा है। प्रदेश में उपलब्ध प्रचुर खनिज संसाधन, पर्याप्त लैण्डबैंक, सुविकसित सड़क अधो-संरचना, बढ़ती कृषि उत्पादकता और निवेश अनुकूल नीतियों से औद्योगिक विकास की अपार संभावनाएँ मौजूद हैं। एमएसएमई सेक्टर के विकास के लिए पृथक से विभाग गठित किया गया है। स्टार्टअप को प्रोत्साहित करने और उन्हें बेहतर ईको सिस्टम उपलब्ध कराने के लिए कई प्रावधान किए गए हैं। बेहतर सड़क नेटवर्क के साथ एक्सप्रेस-वे विकसित किए जा रहे हैं। साथ ही निवेश गलियारों का भी निर्माण होगा। बेहतर औद्योगिक अधो-संरचना सुविधा के लिए उद्योगों के क्लस्टर विकसित किए जा रहे हैं। "एक जिला-एक उत्पाद" से रोजगार के नए अवसर सृजित हो रहे हैं। दक्ष मानव संसाधन की उपलब्धता के लिए ग्लोबल स्किल पार्क के साथ संभाग और जिला स्तर पर आई.आई.टी को भी सशक्त किया जा रहा है।

प्रदेश ने वित्तीय प्रबंधन की अनूठी मिसाल प्रस्तुत की

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश निरंतर विकास की ओर अग्रसर है। हम अब बीमारू राज्य नहीं हैं। मध्यप्रदेश की जीएसडीपी का आकार 15 लाख करोड़ पार कर चुका है। राज्य की परकेपिटा इन्कम एक लाख 40 हजार रूपए हो गई है। इस वर्ष का बजट 3 लाख 14 हजार करोड़ रूपए का है। प्रदेश ने वित्तीय प्रबंधन की अनूठी मिसाल प्रस्तुत की है। राज्य सरकार लाड़ली बहनों को प्रतिमाह एक हजार रूपए देने और केपिटल एक्सपेंडिचर बढ़ाने का कार्य एक साथ कर रही है।

प्रदेश में बना उद्यमशीलता का वातावरण: मंत्री श्री सखलेचा

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री श्री ओमप्रकाश सखलेचा ने कहा कि हमारा विभाग अर्थ-व्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान देने वाला विभाग है। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों को सबसे अधिक आवश्यकता तकनीकी अपग्रेडेशन की है। मुख्यमंत्री श्री चौहान के सहयोग, मार्गदर्शन और उदारता से प्रदेश में उद्यमशीलता का वातावरण बना है। राज्य सरकार औद्योगिक क्लस्टर्स के साथ डिस्प्ले सेंटर और ऑनलाइन कनेक्टिविटी को प्रोत्साहित कर रही है। प्रदेश में उत्पादित सामग्री की बेहतर मार्केटिंग के लिए भी बेहतर प्रयास हो रहे हैं।

उद्यमी हुए सम्मानित

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वर्ष 2018-19, 2019-20 और 2020-21 के लिए एमएसएमई अवार्ड प्रदान किए। प्रभावी कार्य संस्कृति और बेस्ट प्रेक्टिसेस अपनाने के लिए वर्ष 2018-19 का प्रथम पुरस्कार आईटीएल इंडस्ट्रीज लिमिटेड इंदौर को, द्वितीय पुरस्कार शास्त्री सर्जिकल इण्डस्ट्रीज रायसेन और तृतीय पुरस्कार शक्ति एम्पोरियम झाबुआ को प्रदान किया गया। महिला उद्यमियों में मंत्रा कम्पोजिट इंदौर की श्रीमती ममता महाजन को पुरस्कृत किया गया। वर्ष 2019-20 के लिए नंदिनी मेडिकल लेबोरेट्रीज इंदौर को प्रथम, न्यू लाईफ लेबोरेट्रीज मण्डीदीप रायसेन को द्वितीय और सेफफ्लेक्स इंटरनेशनल धार को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया। वर्ष 2020-21 के लिए मॉर्डन लेबोरेट्रीज इंदौर को प्रथम, डीइसीजी इंटरनेशनल मण्डीदीप रायसेन को द्वितीय और हेल्थीको क्वालिटी प्रोडक्ट्स धार को तृतीय पुरस्कार प्राप्त हुआ। वर्ष 2020-21 में महिला उद्यमियों की श्रेणी में सांई मशीन टूल्स इंदौर की श्रीमती शिखा विशाल जायसवाल और श्रीमती निहारिका अजय जायसवाल तथा अर्थव पैकेजिंग इंदौर की श्रीमती ममता शर्मा को पुरस्कृत किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान की उपस्थिति में एनएसई इंडिया, वॉलमार्ट, आरएक्सआईएल, इनवॉइस मार्ट तथा आइसेक्ट के साथ एम.ओ.यू. का आदान-प्रदान हुआ। सचिव एमएसएमई श्री पी. नरहरि ने अतिथियों का स्वागत किया तथा समिट और विभागीय कार्यक्रमों एवं योजनाओं की जानकारी दी। समिट में 6 सत्र होना हैं, जिनसे उद्यमियों, विषय-विशेषज्ञों और युवाओं को उद्यमिता के लिए मार्गदर्शन प्राप्त होगा। सत्रों को ऐसा डिजाइन किया गया है, जिससे अलग-अलग क्षेत्रों में नई संभावनाओं पर विशेष फोकस रहे। समिट में एमएसएमई के लिए टेक्नालॉजी ट्रांसफर, न्यू एज फाइनेंस, अंतर्राष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा, महिला उद्यमिता को प्रोत्साहन और डिजिटल रूपांतरण विषयों पर विशेष सत्र होंगे। समिट में संयुक्त राष्ट्र औद्योगिक विकास संगठन के भारत प्रतिनिधि श्री रेने वान बर्कल, फिक्की फ्लो की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुश्री सुधा शिवकुमार, कोप्पल टॉय क्लस्टर के सीईओ श्री किशोर राव, राष्ट्रीय अनुसंधान विकास निगम के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक कमोडोर अमित रस्तोगी (सेवानिवृत्त), भारतीय लोक प्रशासन संस्थान के महानिदेशक श्री सुरेंद्र नाथ त्रिपाठी और लघु उद्योग भारती के अध्यक्ष श्री महेश गुप्ता उपस्थित थे। इन्वेस्ट इंडिया, एसोचेम इंडिया, सीआईआई, फिक्की, पीएचडी चेम्बर्स ऑफ कॉमर्स एण्ड इंडस्ट्री और डिक्की के प्रतिनिधि समिट में शामिल हुए।


मुख्यमंत्री ने इंदौर में योग जत्रा का शुभारंभ किया

18 Jun 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आज इंदौर के यशवंत क्लब प्रांगण में योग जत्रा कार्यक्रम में शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने श्री गुरू सेवा न्यास द्वारा आयोजित योग के प्रचार-प्रसार के लिये जत्रा का दीप प्रज्ज्वलन कर शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने यहाँ योग के प्रचार-प्रसार और स्वास्थ्य के लिये लाभप्रद मोटे आनाज के विभिन्न स्टॉलों का निरीक्षण भी किया और सराहना की। न्यास के पदाधिकारी एवं जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


ग्वालियर के कार्यक्रमों में जिले के लोगों का बेहतर प्रतिनिधित्व हो :मुख्यमंत्री श्री चौहान

18 Jun 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री ने 24 जून को होने वाले कार्यक्रमों की तैयारियों की समीक्षा की
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि ग्वालियर में 24 जून को होने वाले कार्यक्रम पूरे उत्साह के साथ व्यवस्थित रूप से हों। सभी व्यवस्थाएँ बेहतर की जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान निवास कार्यालय स्थित समत्व भवन में ग्वालियर में होने वाले कार्यक्रमों की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस और अन्य अधिकारी उपस्थित थे। ग्वालियर कमिश्नर, कलेक्टर और अन्य अधिकारी वर्चुअली जुड़े। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कार्यक्रमों में ग्वालियर जिले के लोगों का बेहतर प्रतिनिधित्व हो। बैठने की बेहतर व्यवस्था हो। साथ ही बारिश की संभावना को देखते हुए आवश्यक व्यवस्थाएँ की जाये। कार्यक्रम में केन्द्रीय कृषि एवं किसान-कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर, केंद्रीय नागर विमानन मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, केन्द्रीय संसदीय कार्य, कोयला एवं खान मंत्री श्री प्रह्लाद जोशी, ग्वालियर जिले के प्रभारी एवं प्रदेश के जल संसाधन मंत्री श्री तुलसी सिलावट, ऊर्जा मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, नर्मदा घाटी विकास, उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण राज्य मंत्री श्री भारत सिंह कुशवाह और सांसद श्री विवेक नारायण शेजवलकर शामिल होंगे। बताया गया कि मुख्यमंत्री श्री चौहान 24 जून को ग्वालियर में मेला ग्राउंड/ बेहटा में महिला सम्मेलन में भाग लेंगे और आवासीय भू-अधिकार पत्रों का वितरण, विकास कार्यों का लोकार्पण एवं भूमि-पूजन करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान दो अन्य स्थानीय कार्यक्रमों में भी शामिल होंगे। मुख्यमंत्री विभिन्न योजनाओं के हितलाभ का वितरण और हितग्राहियों से संवाद भी करेंगे।


प्रधानमंत्री श्री मोदी के कार्यक्रम में कोई चूक न हो: मुख्यमंत्री श्री चौहान

18 Jun 2023
भोपाल।प्रधानमंत्री 27 जून को भोपाल और शहडोल के कार्यक्रमों में शामिल होंगे
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के 27 जून को भोपाल और शहडोल में होने वाले कार्यक्रमों में कोई चूक न हो। कार्यक्रम अनुशासित, व्यवस्थित और उत्साहजनक हों। मुख्यमंत्री श्री चौहान निवास कार्यालय समत्व भवन में प्रधानमंत्री श्री मोदी के प्रदेश में आगमन की तैयारियों संबंधी बैठक में अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थे। जनजातीय कार्य एवं अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री सुश्री मीना सिंह, लोक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक श्री सुधीर सक्सेना सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। शहडोल संभाग के कमिश्नर और कलेक्टर वर्चुअली जुड़े। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी 27 जून को भोपाल प्रवास पर आएंगे। वे यहाँ रानी कमलापति रेलवे स्टेशन से जबलपुर और इंदौर के लिए वंदे भारत ट्रेनों को हरी झंडी दिखा कर रवाना करेंगे। इसके बाद भोपाल के मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में होने वाले कार्यक्रम में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कार्यक्रम स्थल पर बैठक व्यवस्था की पहले से प्लानिंग कर ली जाए। कार्यक्रम से संबंधित हर व्यवस्था की पहले से बेहतर तैयारी कर लें। प्रधानमंत्री के आगमन की व्यवस्था के संबंध में जन-प्रतिनिधियों से भी समन्वय कर व्यवस्था को बेहतर बनाने का प्रयास करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी इसी दिन भोपाल से शहडोल जायेंगे और जिले में होने वाले कार्यक्रमों में सम्मिलित होंगे। उन्होंने कहा कि शहडोल के पास पकरिया में होने वाले कार्यक्रम में ग्रामीण परिवेश एवं जनजातीय संस्कृति की झलक दिखाई दे। शहडोल कमिश्नर और कलेक्टर ने कार्यक्रम की तैयारियों संबंधी जानकारी दी।


उद्यमशील संस्कृति को बढ़ावा और नवाचार की भावना विकसित करना जरूरी :मुख्यमंत्री श्री चौहान

17 Jun 2023
भोपाल।19 जून को होगी एमपी एमएसएमई समिट-2023
सभी जिलों में होगा सीधा प्रसारण मुख्यमंत्री ने की तैयारियों की समीक्षा

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में उद्यमशील संस्कृति को बढ़ावा देने और नवाचार की भावना को विकसित करने में एमपी एमएसएमई समिट-2023 सहायक सिद्ध होगी। इसमें शामिल होने वाले उद्यमियों, विषय-विशेषज्ञों से प्रदेश के युवाओं को उद्यमिता के लिए मार्गदर्शन प्राप्त होगा और वे विभिन्न क्षेत्रों में नई संभावनाओं से परिचित भी हो सकेंगे। समिट में एमएसएमई के लिए टेक्नालॉजी ट्रांसफर, न्यू एज फाइनेंस, अंतर्राष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा, महिला उद्यमिता को प्रोत्साहन और डिजिटल रूपांतरण विषयों पर विशेष-सत्र होंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान 19 जून को "आर्थिक विकास के शुभ संयोग- मध्यप्रदेश के सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग" पर होने वाली समिट-2023 की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। निवास कार्यालय स्थित समत्व भवन में हुई बैठक में मंत्री श्री ओमप्रकाश सकलेचा उपस्थित रहे।

एमएसएमई अवार्ड से सम्मानित होंगे उद्यमी और उद्योगपति

भोपाल में नर्मदापुरम रोड स्थित आमेर ग्रीन्स में सुबह 9:30 बजे से होने वाली समिट में लगभग 1000 प्रतिभागी शामिल होंगे। इसमें उद्यमी एवं उद्योगपति, उद्योग संघ पदाधिकारी, र्स्टाट अप से जुड़े व्यक्ति और विद्यार्थी शामिल होंगे। वाल्मार्ट और एनएसई इंडिया के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर भी होंगे। साथ ही वर्ष 2018-।9, 2019-20 और 2020-21 के लिए एमएसएमई अवार्ड दिए जाएंगे। सभी जिला मुख्यालयों पर कार्यक्रम का सीधा प्रसारण होगा।

आधुनिकीकरण, वित्तीय समाधान, डिजिटल परिवर्तन और अंतर्राष्ट्रीय काम्पिटेटिवनेस पर होंगे सत्र

समिट में 6 विषयगत सत्र होंगे, जिनमें प्रौद्योगिकी हस्तांतरण से एमएसएमई का आधुनिकीकरण, एमएसएमई के लिए वित्तीय समाधान के नए आयाम, क्लस्टर विकास, एमएसएमई को परिस्थितिकी अनुरूप समर्थ बनाना, अंतर्राष्ट्रीय काम्पिटेटिवनेस बढ़ाना, उद्यामिता के माध्यम से महिला सशक्तिकरण और एमएसएमई के लिए डिजिटल परिर्वतन की आवश्यकता विषयों पर चर्चा होगी। समिट में संयुक्त राष्ट्र औद्योगिक विकास संगठन के भारत प्रतिनिधि श्री रेने वान बर्कल, फिक्की फ्लो की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुश्री सुधा शिवकुमार, कोप्पल टॉय क्लस्टर के सीईओ श्री किशोर राव, राष्ट्रीय अनुसंधान विकास निगम के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक कमोडोर श्री अमित रस्तोगी, भारतीय लोक प्रशासन संस्थान के महानिदेशक (सेवानिवृत्त) श्री सुरेंद्र नाथ त्रिपाठी, अध्यक्ष लघु उद्योग भारती श्री महेश गुप्ता, केन्द्र सरकार के पूर्व सचिव डॉ. राजन कटोच और अध्यक्ष दलित चेम्बर्स आफ कामर्स इंडस्ट्रीज श्री मिलिंद कामले शामिल होंगे। कार्यक्रम के नॉलेज पार्टनर अर्नस्ट एण्ड यंग और अकादमिक पार्टनर आइआईएम इंदौर हैं। इन्वेस्ट इंडिया, एसोचैम इंडिया, सीआईआई, फिक्की, पीएचडी चेम्बर्स ऑफ कॉमर्स एण्ड इंडस्ट्री और डिक्की भी कार्यक्रम में सहभागी हैं।


साइंस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल मानव कल्याण के लिए हो-मुख्यमंत्री श्री चौहान

16 Jun 2023
भोपाल।भारत दुनिया के कल्याण के लिए नई दिशा प्रदान कर रहा है
मुख्यमंत्री ने साइंस-20 कॉन्फ्रेंस में आए प्रतिनिधियों से किया संवाद

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भारत वासियों की सोच में साइंस टेक्नोलॉजी, समाज और संस्कृति, आज से नहीं हजारों सालों से है। भारत, दुनिया के कल्याण के लिए एक नई दिशा प्रदान कर रहा है। सारी दुनिया एक ही परिवार है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वन अर्थ, वन फेमिली और वन फ्यूचर की बात कही है, जो भारत का प्राचीन विचार है। भारत में बच्चा-बच्चा कहता है कि 'धर्म की जय हो, अधर्म का नाश हो, प्राणियों में सद्भावना हो और विश्व का कल्याण हो'। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने होटल ताज में जी-20 अंतर्गत साइंस-20 कॉन्फ्रेंस-ऑन "कनेक्टिंग साइंस टू सोसायटी एंड कल्चर" में आए G-20 के सदस्य देशों, आमंत्रित राज्यों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के वैज्ञानिक समुदाय के प्रतिनिधियों से संवाद में यह बात कही।

विज्ञान का उपयोग समाज के कल्याण के लिए मर्यादित रूप में हो

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रकृति का शोषण नहीं होना चाहिए, मानव कल्याण के लिए उसका सही दिशा में दोहन किया जाए। प्रकृति की पूजा करें। टेक्नोलॉजी मनमानी करने के लिए नहीं है। पेड़ों की अंधाधुंध कटाई और अन्य प्राकृतिक संसाधनों का व्यर्थ दोहन न हो। विज्ञान टेक्नोलॉजी का हमारे जीवन में अत्यधिक महत्व है। इसका उपयोग सुशासन के लिए होना चाहिए। विज्ञान का उपयोग समाज के कल्याण के लिए मर्यादित रूप में हो। वैज्ञानिकों का कर्त्तव्य है कि साइंस का उपयोग विनाश के लिए नहीं बल्कि रचनात्मकता के लिए किया जाए। लोगों की समस्याओं के समाधान, उनके कल्याण और आगे आने वाली पीढ़ियों के लिए धरती को रहने लायक बनाने टेक्नोलॉजी का बेहतर उपयोग करें। दुनिया की भलाई के लिए ही टेक्नोलॉजी का उपयोग हो।

पर्यावरण संतुलन बनाए रखना आवश्यक

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भौतिक और नैतिक दोनों का समन्वय करने के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करना बेहतर है। लोगों का जीवन स्तर सुधारने और बेहतरी के लिए विज्ञान का उपयोग हो। हमें पर्यावरण संतुलन बनाए रखने और प्रदूषण फैलने से रोकने के उपाय सुनिश्चित करने होंगे। पेड़-पौधे, कीट-पतंगे तथा जीव-जंतुओं की प्रजातियाँ समाप्त न हों, इस पर भी ध्यान देना होगा। जियो और जीने दो के सिद्धांत पर चलकर सभी के कल्याण के लिए अपना योगदान दें। विज्ञान का अमर्यादित उपयोग न हो। हम सब एक हैं, एक ही चेतना हैं। प्रेम, स्नेह, शांति और आत्मीयता बनाए रखकर एक-दूसरे के लिए सदैव खड़े रहें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रांरभ में सम्मेलन में आए प्रतिनिधियों का स्टॉल भेंट कर स्वागत किया। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश, देश का दिल है। देश के दिल की राजधानी भोपाल में आपका हृदय से स्वागत है। उल्लेखनीय है कि एस-20, जी-20 का भाग है। वैज्ञानिक तरीके से यह लोगों की समस्याओं को समझने और निदान करने के लिए प्रयासरत है। सम्मेलन में साइंस को सोसायटी और कल्चर के साथ जोड़ने के लिए गहन विचार-विमर्श हुआ। भारत सरकार के परमाणु ऊर्जा आयोग के पूर्व अध्यक्ष तथा पद्मविभूषण से सम्मानित डॉ. राजगोपाल चिदंबरम, इंडोनेशिया के प्रतिनिधि प्रो. अहमद नजीब बुरहानी, ब्राज़ील के प्रतिनिधि प्रो. रुबेन ओलिवन, अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन और नीति विश्लेषण संस्थान के उपाध्यक्ष प्रो. सचिन चतुर्वेदी, डॉ. आलोक श्रीवास्तव तथा श्री अजय प्रकाश साहनी सहित अन्य वैज्ञानिक प्रतिनिधि मौजूद थे।


98.51 प्रतिशत लाड़ली बहनों को हुआ है 1000 रूपए का भुगतान : मुख्यमंत्री श्री चौहान

15 Jun 2023
भोपाल।शेष रही बहनों को भुगतान कराने में अधिकारी लेंगे जन-प्रतिनिधियों का सहयोग
मुख्यमंत्री किसान-कल्याण योजना में किसानों को प्रतिवर्ष 4 हजार की जगह मिलेंगे 6 हजार रूपए
मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना एवं मुख्यमंत्री कृषक ब्याज माफी योजना की समीक्षा

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना और मुख्यमंत्री कृषक ब्याज माफी योजनाएँ अद्भुत हैं। इन योजनाओं के क्रियान्वयन में बेहतर कार्य हुआ है। इसके लिए मंत्रीगण, विधायक, जन-प्रतिनिधि और जिला प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारी बधाई के पात्र हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना में अब तक एक करोड़ 18 लाख 22 हजार 624 लाड़ली बहनों को सफल भुगतान किया जा चुका है, जिसका प्रतिशत 98.51 है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अधिकारियों को लाड़ली बहना योजना में राशि अंतरित नहीं होने वाली बहनों की मदद करने के लिये जन-प्रतिनिधियों से सहयोग लेने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री निवास कार्यालय समत्व भवन में मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना और मुख्यमंत्री कृषक ब्याज माफी योजना की समीक्षा कर रहे थे। मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव कृषि श्री अशोक वर्णवाल, प्रमुख सचिव सहकारिता श्री उमाकान्त उमराव, प्रमुख सचिव विज्ञान एवं तकनीकी श्री निकुंज श्रीवास्तव सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

शीघ्र कराया जायेगा शेष लाड़ली बहनों के खाते में भुगतान

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना में राशि अंतरण के बाद शेष रही बहनों को भी खाते में शीघ्र पैसा पहुँचाने के लिये सभी आवश्यक प्रयास तत्परता से करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जिन एक लाख 78 हजार 891 बहनों के खाते में राशि नहीं पहुँची है, उनसे आवश्यक जानकारियाँ प्राप्त कर बैंक को उपलब्ध कराई जाये, जिससे उनके खाते में भुगतान हो सके। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आधार सीडिंग कार्य में महापौर, जनपद अध्यक्ष, सरपंच, समस्त जन-प्रतिनिधियों का सहयोग लिया जाए। जन-प्रतिनिधि बहनों के साथ बैंकों में जाकर अकाउंट डाटा अपडेट करने में आवश्यक मदद करें, जिससे योजना की राशि पहुँच सके। बताया गया कि 10 जून से 14 जून के मध्य डीबीटी सक्रिय किये गये 1.07 लाख हितग्राही बहनों के भुगतान आदेश 15 जून को प्रोसेस किये गये हैं।

असफल भुगतान प्रकरणों के निराकरण के लिये की जा रही कार्यवाही

समस्त लाड़ली बहनों को एसएमएस कर भुगतान असफल होने की जानकारी दी जा रही है। संदेशों के द्वारा असफल होने के कारण और उनके निराकरण के लिये सुझाव भी प्रेषित किये जा रहे हैं। जिले और स्थानीय निकाय स्तर पर प्रत्येक लाड़ली बहना के भुगतान असफल होने का कारण और निदान प्रदर्शित किया जा रहा है। जिला स्तर से निराकरण के बाद लाड़ली बहनों को भुगतान किये जाने की पुन: कार्यवाही की जानकारी पोर्टल के माध्यम से दी जायेगी।

शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर मिलेगा खाद-बीज

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कृषक ब्याज माफी योजना में डिफाल्टर किसानों के खाते में डाली गई राशि के बाद अब वे किसान शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर खाद-बीज प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री किसान-कल्याण योजना में किसानों को अब 4 हजार रूपए की जगह 6 हजार रूपए दिए जाएंगे। हर साल तीन किश्तों में दो-दो हजार रुपए की राशि डाली जाएगी। उल्लेखनीय है कि मंत्रि-परिषद द्वारा 9 मई 2023 को कृषक ब्याज माफी योजना को स्वीकृति दी गई थी। योजना में 31 मार्च 2023 की स्थिति में डिफाल्टर कृषकों के ऊपर 2 लाख रूपए के ब्याज सहित अल्पकालीन एवं मध्यकालीन परिवर्तित ऋण की ब्याज राशि माफ किए जाने का प्रावधान है। योजना में 11 लाख 19 हजार डिफाल्टर कृषकों के ऊपर बकाया ब्याज की राशि लगभग 2123 करोड़ रूपये माफ की गई है।


हायर सेकण्डरी स्कूलों में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को ई-स्कूटी देने का निर्णय

14 Jun 2023
भोपाल।मंत्रि-परिषद के निर्णय से करीब 9 हजार विद्यार्थियों को मिलेगी ई-स्कूटी ई-स्कूटी के लिए वर्ष 2023-24 के बजट में 135 करोड़ का प्रावधान
अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति के लिए आय सीमा अब 8 लाख
"मध्यप्रदेश की सहकारिता नीति, 2023" का अनुमोदन मुख्यमंत्री श्री चौहान की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद के निर्णय

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद की बैठक आज मंत्रालय में हुई। मंत्रि-परिषद ने विद्यार्थियों को प्रोत्साहित करने के लिये नवीन योजना अंतर्गत प्रदेश के सभी शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं को ई-स्कूटी प्रदान करने का निर्णय लिया है। अगर एक से ज्यादा विद्यार्थियों के सर्वाधिक अंक है तो उन सभी को योजना का लाभ मिलेगा। जिन क्षेत्रों में ई-स्कूटी उपलब्ध नहीं है वहाँ पर स्कूटी प्रदाय की जाएगी। योजना से लगभग 9 हजार विद्यार्थी लाभान्वित होंगे। वर्ष 2023-24 के बजट में योजना के क्रियान्वयन के लिये 135 करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है। उल्लेखनीय है कि विद्यार्थियों को विद्यालयों तक पहुँचने में सुविधा बढ़ाने तथा निर्भरता कम करने, उच्च शिक्षा के लिये प्रोत्साहित करने, आत्म-विश्वास जागृत करने के लिये नवीन योजना का प्रावधान किया गया है।

अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति के लिए आय सीमा अब 8 लाख

मंत्रि-परिषद ने मुख्यमंत्री श्री चौहान की घोषणा अनुरूप अनुसूचित जाति कल्याण विभाग द्वारा 15 अप्रैल 2023 को जारी आदेश ‘अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति के लिए आय सीमा 6 लाख से बढ़ा कर 8 लाख रूपये किये जाने और अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों को विदेश अध्ययन छात्रवृति मानविकी विषयों के लिए भी दिए जाने का अनुसमर्थन किया। साथ ही अशासकीय संस्थाओं में अध्ययनरत अनुसूचित जनजाति वर्ग के विदयार्थियों की पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति की वार्षिक आय सीमा 8 लाख रूपये किये जाने की सहमति प्रदान की गई। उल्लेखनीय है कि जनजातीय कार्य विभाग द्वारा शासकीय एवं शासकीय वित्त पोषित शैक्षणिक संस्थाओं में अध्ययनरत अनुसूचित जनजाति के विद्यार्थियों के लिए आय सीमा का बंधन समाप्त किया गया है। आय सीमा में वृद्धि से अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों को शिक्षा प्राप्त करने के व्यापक अवसर प्राप्त हो सकेंगे।

"मध्यप्रदेश की सहकारिता नीति, 2023" का अनुमोदन

मंत्रि-परिषद ने "मध्यप्रदेश की सहकारिता नीति, 2023 का अनुमोदन करते हुए समयबद्ध कार्य-योजना बनाकर क्रियान्वित करने के लिए सहकारिता विभाग को अधिकृत किया है। यह सहकारिता नीति राज्य में सहकारिता को एक जन-आंदोलन बनाने की दिशा में अग्रसर करने का मार्ग प्रशस्त करेगी। सहकारिता के माध्यम से नवीन क्षेत्रों में समितियाँ गठित होंगी और रोजगार के अवसर निर्मित होंगे। राज्य के सहकारिता कानून में भी आवश्यकताअनुसार बदलाव किया जायेगा और सहकारिता की आंतरिक एवं संरचनात्मक कमियों को दूर करने की कार्यवाही की जा सकेगी। साथ ही सहकारिता में सूचना प्रौद्योगिकी का व्यापक स्तर पर उपयोग किया जाएगा। सहकारी नीति में कृषि साख, शहरी साख, सहकारी विपणन, सहकारी आवास, उपभोक्ता सहकारिता, सहकारी बीज उत्पादन एवं विपणन, लघु वनोपज सहकारी समितियाँ, डेयरी सहकारिता, सहकारी मत्स्य पालन आदि प्रमुख क्षेत्र शामिल हैं।

ओंकारेश्वर फ्लोटिंग सोलर परियोजना को भुगतान सुरक्षा गारंटी और प्रारूप को सहमति

मंत्रि-परिषद ने 600 मेगावॉट क्षमता की ओंकारेश्वर फ्लोटिंग सोलर परियोजना को राज्य शासन की भुगतान सुरक्षा गारंटी तथा उसके प्रारूप को सहमति प्रदान की है। उल्लेखनीय है कि नर्मदा नदी के ओंकारेश्वर जलाशय पर 600 मेगावॉट क्षमता की फ्लोटिंग सोलर परियोजना का निर्माण 2 चरण में किया जा रहा है। ओंकारेश्वर फ्लोटिंग सोलर परियोजना देश तथा विश्व की सबसे बड़ी फ़्लोटिंग सोलर परियोजनाओं में से एक होगी। ओंकारेश्वर परियोजना देश की बहुउद्देशीय परियोजनाओं में से एक है, जहाँ सिंचाई, जल विद्युत् उत्पादन के साथ अब सौर ऊर्जा का उत्पादन भी होगा एवं पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा।

"मुख्यमंत्री यूथ इंटर्नशिप फॉर प्रोफेशनल डेवलपमेंट प्रोग्राम" में संशोधन की स्वीकृति

मंत्रि-परिषद ने लोक सेवा प्रबंधन विभाग अंतर्गत अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन एवं नीति विश्लेषण संस्थान में मुख्यमंत्री श्री चौहान की घोषणा अनुरूप "मुख्यमंत्री यूथ इंटर्नशिप फॉर प्रोफेशनल डेवलपमेंट प्रोग्राम" CMYIPDP प्रोग्राम में संशोधन की स्वीकृति दी है। CMYIPDP प्रोग्राम में इंटर्न का मानदेय 8 हजार रूपये से बढ़ा कर 10 हजार रूपए प्रतिमाह किया जाएगा। इंटर्न की नियुक्ति अब ब्लॉक स्तर के साथ पंचायत स्तर पर की जाएगी। साथ ही मंत्रि-परिषद ने अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन एवं नीति विश्लेषण संस्थान भोपाल में मुख्य कार्यपालन अधिकारी पद पर नियुक्ति के प्रावधान में संशोधन के संबंध में लोक सेवा प्रबंधन के 13 मई 2021 को जारी आदेश की कंडिका VIII में संशोधन प्रतिस्थापित करने का निर्णय लिया है।

जनजातीय कार्य विभाग के 11 उच्चतर माध्यमिक शाला भवनों के निर्माण की स्वीकृति

मंत्रि-परिषद ने जनजातीय कार्य विभाग अंतर्गत सी.एम. राइज योजनान्तर्गत 11 उच्चतर माध्यमिक शाला भवनों के निर्माण कार्यों के लिए 338 करोड़ 83 लाख 6 हजार रूपये की स्वीकृति प्रदान की है। उल्लेखनीय है कि जनजातीय कार्य विभाग में प्रथम चरण में 95 स्कूल को सीएम राइज स्कूल के रूप में चयनित किया गया है। इसमें से धार, मण्डला, झाबुआ, बैतूल, अलीराजपुर, खरगोन और रतलाम जिलों में कुल 11 स्कूल के लिये भवन निर्माण का कार्य किया जाना है।

ट्रायसेम हैण्डपंप तकनीशियन के मानदेय में वृद्धि

मंत्रि-परिषद द्वारा लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अधीन ट्रायसेम हैण्डपंप तकनीशियन को अधिकतम 120 हैण्डपंप के लिए 75 रूपये प्रति हैण्डपम्प के स्थान पर 100 रूपये प्रति हैण्डपम्प प्रतिमाह मानदेय भुगतान किये जाने का निर्णय लिया है।

लगभग 17 हजार करोड़ रूपये से अधिक की जल प्रदाय योजनाओं की स्वीकृति

मंत्रि-परिषद ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा मध्यप्रदेश जल निगम के माध्यम से क्रियान्वयन के लिये 2 पुनरीक्षित समूह जल प्रदाय योजनाएँ लागत 2,002 करोड़ 62 लाख रूपये तथा 29 नवीन समूह जल प्रदाय योजनाएँ लागत 15,995 करोड़ 98 लाख रूपये की प्रशासकीय स्वीकृति देने का निर्णय लिया है।

अन्य निर्णय

मंत्रि-परिषद् ने जिला सिंगरौली में सिंगरौलिया स्थित एयरपोर्ट निर्मित/विकसित करने के स्थान पर निजी जन-भागीदारी से नवीन हवाई पट्टी निर्माण एवं अन्य प्रासंगिक निर्माण यथा बाउण्ड्रीवॉल, दो हेलीपेड, एक हैंगर, प्रशासकीय भवन, स्टॉफ क्वार्टर एवं बिजली लाइन की शिफ्टिंग के लिए 35 करोड़ 30 लाख रूपये को पुनरीक्षित कर उन्हीं शर्तों पर 40 करोड़ 19 लाख 96 हजार रूपये की स्वीकृति जारी करने का निर्णय लिया है। मंत्रि-परिषद ने नर्मदापुरम जिले के औबेदुल्लागंज-नर्मदापुरम-नागपुर मार्ग में नर्मदा नदी पर उच्च स्तरीय पुल निर्माण लागत 129 करोड़ 68 लाख रूपये की पुनरीक्षित प्रशासकीय स्वीकृति दी है। मंत्रि-परिषद ने मुख्यमंत्री श्री चौहान के मध्यप्रदेश के स्थाई निवासी शौर्य अंलकरण श्रृंखला, युद्ध सेवा मेडल श्रृंखला एवं विशिष्ट सेवा श्रेणी के मेडल प्राप्त कर्ताओं को राज्य शासन की ओर से दी जाने वाली पुरस्कार राशि में वृद्धि किए जाने के संबंध में दिए निर्देश के परिपालन में विभाग के 30 मार्च 2023 को जारी आदेश का अनुसमर्थन किया।


श्री कैलाश प्रसून सारंग का पुण्य फल है भोपाल में महाशिवपुराण कथा

13 Jun 2023
भोपाल।आश्चर्य है आयोजक रोज पंड़ाल बढ़ा रहे हैं फिर भी उनमें लाखों श्रद्धालु नहीं समा रहे हैं-पंड़ित प्रदीप मिश्रा जी महाराज
अपने पुण्य से किसी जीव का कल्याण करें ये दुनिया की शायद पहली ऐसी कथा है जिसमें तपती धूप में लाखों श्रद्धालु आसन जमाएं हैं

श्री कैलाश प्रसून सारंग की स्मृति में भोपाल में आयोजित महाशिवपुराण कथा में आज चौथे दिवस विशाल जन समुद्र उमड़ा। यह उनके पुण्य फल का परिणाम है। लाखों की संख्या में श्रद्धालु श्रौताओं के समूह को देखकर व्यासपीठ पर विराजित पंड़ित प्रदीप मिश्रा जी ने आष्चर्य जताया कि आयोजक रोज पंड़ाल बढ़ा रहे हैं फिर भी लाखों श्रद्धालु समा नहीं रहे हैं इससे लगता है कि भोपाल पर भगवान शंकर की असीम कृपा है। व्यासपीठ की पूजन अर्चना के उपरांत चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विष्वास कैलाश सारंग ने कहा कि यह भगवान शिव की बड़ी ही कृपा है जो इस शिवमहापुराण कथा के आयोजक के रूप में निमित्त बना। श्री सारंग ने एक दर्जन से ज्यादा पंड़ालों में आसन जमाए लाखों श्रद्धालुओं से श्री कुवेरेष्वर धाम, श्री महाकाल, श्री केदारनाथ, श्री अमरनाथ और साथ में व्यासपीठ पर विराजित पंड़ित प्रदीप मिश्रा जी के नाम पर जयकारे लगवाये और तालियां बजवांई। कथा के चौथे दिन 9 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने कथा का श्रवण किया। व्यासपीठ की पूजन व आरती में मध्यप्रदेश विधानसभा पूर्व अध्यक्ष डॉ. सीतासरण शर्मा, पूर्व सांसद-रघुनंदन शर्मा, वित्त मंत्री-जगदीश देवड़ा, विधायक-रामेष्वर शर्मा, सहित बड़ी संख्या में गणमान्य जन उपस्थित रहे।

आंखें खोलकर दूसरों में बुराई देखने से अच्छा है आंखें बंद कर के अपने में बुराईयां देखो

पंड़ित प्रदीप मिश्रा ने मनुष्य मात्र को बुराईयों से बचकर रहने को सचेत किया। उन्होंने कहा कि लोग दूसरों की बुराईयां आंखे खोलकर देखते हैं यह अच्छी आदत नहीं है। अच्छा होगा आंखे खोल कर दूसरों की बुराईयां देखने से आंखे बंद करके अपने अंदर की बुराईयां देखें और उनसे छुटकारा पाएं। महाषिवपुराण की कथा हमें हमारे अंदर की बुराईयो से मुक्ति दिलाती है।

जन्म मृत्यु के प्रपंच से बचना है तो भगवत नाम भजिए

यह संसार जन्म मृत्यु के प्रपंच से भरा है इससे मुक्ति से लिए भगवान श्रीराम, श्री कृष्ण का अथवा अन्य किसी भगवत अवतार का नाम जपिए इसी से हम प्रपंच मुक्त हो सकते हैं।

जवानी में किए गए पाप बुढ़ापे में नहीं धुल सकते

बढ़े ही आष्चर्य की बात है लोग जवानी में पाप करते हैं और बुढ़ापा आने पर पुण्य करने बैठ जाते हैं। यह बड़ी ही घातक प्रवृत्ति है, जरा सोचिए क्या जवानी में किए गए पाप बुढ़ापे में धुल सकते हैं! शायद कभी नहीं, अच्छा होगा हम जवानी में ही पुण्य करें। दुखियारों, गरीबों, और जरूरतमंदों के काम आएं।

अपने पुण्य दूसरों के कष्ट मिटाने में लगाएं

महाशिवपुराण की कथा कहाते हुए पंड़ित प्रदीप मिश्रा ने बताया कि एक बार माता पार्वती ने भगवान शंकर से अपने सारे पुण्य फल उन्हें समर्पित करने की इच्छा जताई। तब भगवान शंकर ने कहा- हे देवी! अपने पुण्य उन लोगों के लिए समर्पित करों जो किसी तरह के कष्ट में हैं, दुखी हैं, अस्वस्थ्य हैं और गरीब हैं।

व्रत उपवास हो चाहे महामृत्युंजय का जप अनुष्ठान घर में सबको जानकारी देकर ही संपन्न करें

पंडित प्रदीप मिश्रा ने बताया कि घर में जो कोई महिला अथवा पुरूष भगवान शंकर के नाम व्रत उपवास रखे चाहे वो सोमवार व्रत हो अथवा पशुपति नाथ का व्रत इसकी जानकारी घर के सभी सदस्यों को जरूर दें साथ ही किसी तरह के कष्ट निवारण हेतु किसी ब्राहम्ण से महामृत्युंजय का जप अनुष्ठान कराएं तब भी इसकी जानकारी घर के सदस्यों को दें ताकि सभी के मन में किसी तरह का भेदभाव ना पनपे।

भविष्य, कूर्म और नंदी पुराण में वर्णित है अक्षत का महत्व

पंडित प्रदीप मिश्रा ने बताया कि भगवान को एक लोटा जल विल्व पत्र और अक्षत का एक दाना भी अर्पित करोगे उसका फल विषेष रूप से प्राप्त होता है। किसी के मस्तक पर तिलक के साथ अक्षत लगाने से भाग्य बदलता है। अक्षत के महत्व को भविष्य पुराण, कूर्म पुराण और नंदी पुराण में विषेष रूप से बताया गया है

सास डेंजर होती है- यह चित वृत्ति अनुचित है

अक्सर देखा जाता है कि जिस किसी भी युवती का विवाह होता है तो उसके मन में यह विचार आता है कि ससुराल में सास बड़ी डेंजर होती है। यह चित वृत्ति अनुचित है। क्योंकि जैसा हम सोचतें है वैसा ही हम देखतें हैं। क्यों ना यह सोचें कि जो भी होगा किस्मत से अच्छा ही होगा हम अपने अच्छे स्वभाव से बुरे को भी अच्छा बना लेंगे।

फेसबुक पर एक पोस्ट-पुत्र रत्न की प्राप्ति सभी मित्रों का आभार!

पंड़ित मिश्रा ने मोबाईल फेसबुक पर बिना सोचे समझे पोस्ट डालने पर आष्चर्य जताते हुए और कहा कि लोगों को कई बार यह भी ख्याल नहीं रहता कि जो कुछ हम अपनी पोस्ट में लिख रहें है उसका अर्थ क्या है, पंड़ित मिश्रा को उनके परिकर के लोगों ने फेसबुक पर एक पोस्ट दिखाई, जिसमें किसी सज्जन के यहां पुत्र रत्न की प्राप्ति पर उन्होंने लिखा पुत्र रत्न की प्राप्ति सभी मित्रों का आभार। अब हैं ना अपनी ही पोस्ट से अपनी ही खिल्ली उड़वाना। अरे भाई, कुछ लिखना ही है तो ऐसा लिखों की पुत्र रत्न की प्राप्ति और देवादि देव महादेव का आभार।

अनमोल वचन

► इस संसार में जन्म लिया है तो श्रीराम का नाम तो लेना ही पड़ेगा।

► जीवन के कुछ पल परमात्मा को समर्पित करो।

► दुख की घड़ी में कोई आए अथवा ना आए महामृत्युंजय महादेव जरूर आते हैं।

► नदियां, तालाब, कुआं, बावडियों को शुद्ध करने का संकल्प लीजिए।

शंकर के भक्त तो बड़े अडभंगे हैं, वह भोजन छोड़ सकते हैं लेकिन षिव कथा का आसन नहीं छोड़ सकते



सतपुड़ा भवन में आग की घटना की जाँच रिपोर्ट 3 दिन में प्रस्तुत करें : मुख्यमंत्री श्री चौहान

13 Jun 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने सतपुड़ा भवन में लगी आग की घटना की जाँच रिपोर्ट 3 दिन में प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि यह संतोष की बात है कि दुर्भाग्यपूर्ण घटना में कोई जनहानि नहीं हुई। शासकीय कार्य प्रभावित न हो इस उद्देश्य से जो कार्यालय आग से प्रभावित हुए हैं, उन्हें अन्य भवनों में शिफ्ट कर तत्काल कार्य आरंभ किया जाए। शासकीय दस्तावेजों को डिजिटली रिट्रीव कर रिकॉर्ड संधारित किया जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सतपुड़ा भवन में आग लगने की घटना पर उच्च स्तरीय बैठक में यह निर्देश दिए। निवास कार्यालय भवन समत्व में हुई बैठक में गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास सारंग, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री प्रभुराम चौधरी और मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भविष्य में इस प्रकार की दुर्घटना न हो इसके लिए फायर सेफ्टी ऑडिट की पुख्ता व्यवस्था की जाए। यह भी सुनिश्चित करना आवश्यक है कि सभी बहुमंजिला इमारतों के चारों ओर फायर फाइटिंग सिस्टम को ऑपरेट करने के लिए स्थान उपलब्ध हो। बैठक में जानकारी दी गई कि आग पर नियंत्रण के लिए सेना, सीआईएसफ, भेल और एयरपोर्ट अथॉरिटी की टीमों को सक्रिय किया गया था। बैठक में अपर मुख्य सचिव गृह श्री राजेश राजौरा, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्री मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव श्री नीरज मंडलोई, श्रीमती पल्लवी जैन गोविल, श्री सुखबीर सिंह उपस्थित थे।



प्रदेश में आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय 10 हजार रूपए से बढ़ा कर 13 हजार रूपए किया जाएगा

12 Jun 2023
भोपाल।प्रदेश में आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय 10 हजार रूपए से बढ़ा कर 13 हजार रूपए किया जाएगा। मानदेय में इंसेंटिव के रूप में 1000 रूपए की वृद्धि प्रतिवर्ष की जाएगी। आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना का 1000 रूपए प्रति माह अलग से प्राप्त होगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कल आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के भेल दशहरा मैदान में हुए सम्मेलन में घोषणा की कि मिनी आँगनवाड़ी कार्यकर्ता का मानदेय भी 6 हजार 500 रूपये प्रतिमाह कर दिया गया है। आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को सेवानिवृत्त होने पर एकमुश्त एक लाख 25 हजार रूपए और सहायिकाओं को एक लाख रूपए उपलब्ध कराए जाएंगे। आँगनवाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं का 5 लाख रूपए का स्वास्थ्य और दुर्घटना बीमा कराया जाएगा। सहायिका से आँगनवाड़ी कार्यकर्ता के पद पर पदोन्नति के लिए 50 प्रतिशत पद आरक्षित होंगे। आँगनवाड़ी कार्यकर्ता को शासकीय कर्मचारी की तरह सुविधा होगी।



किसान-कल्याण महाकुंभ में आएँ किसान भाई: मुख्यमंत्री श्री चौहान

12 Jun 2023
भोपाल।13 जून को राजगढ़ में होगा महाकुंभ
रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह भी होंगे शामिल
किसानों के ऋण की ब्याज माफी, फसल बीमा और मुख्यमंत्री
किसान-कल्याण की राशि किसानों के खातों में डाली जाएगी

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हमने किसानों के ऋण पर ब्याज की राशि राज्य सरकार की ओर से भरवाने की बात कही थी। राजगढ़ में 13 जून को किसान- कल्याण महाकुंभ में किसानों के ब्याज की राशि उनके बैंक खातों में जमा की जाएगी, जिससे किसानों को कृषक सोसायटी से खाद-बीज मिल सकेगा। कार्यक्रम में रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह भी विशेष रूप से शामिल होंगे। किसान-कल्याण महाकुंभ में फसल बीमा योजना के 2900 करोड़ रूपए भी किसानों के खातों में डाले जाएंगे। मुख्यमंत्री किसान-कल्याण योजना के 2 हजार रूपए भी सभी पात्र किसानों के खातों में अंतरित होंगे। यह बात मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया के माध्यम से किसानों से की अपील में कही।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी 6 हजार रूपए प्रतिवर्ष किसानों के खातों में जारी करते हैं। राज्य शासन की ओर से भी 4 हजार रूपए 2 किस्त में किसानों के खातों में डाले जाते हैं।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसान-कल्याण महाकुंभ किसानों के कल्याण के लिए हमारी सरकार की प्रतिबद्धता का प्रकटीकरण है। किसान भाई अधिक से अधिक संख्या में राजगढ़ के किसान महाकुंभ में शामिल हों। सभी जिला मुख्यालयों तथा सोसायटी मुख्यालयों पर भी कार्यक्रम होंगे। किसान भाई इन कार्यक्रमों में आएँ, महाकुंभ से वर्चुअली जुड़ें और संवाद में शामिल हों।


दतिया में हो रहा है सर्वांगीण विकास : गृह मंत्री डॉ. मिश्रा

11 Jun 2023
भोपाल।गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने रविवार को दतियावासियों को करोड़ों रूपये की सौगात देते हुए विभिन्न विकास कार्यों का भूमि-पूजन किया। उन्होंने कहा कि दतिया में चारों ओर विकास की बयार बह रही है। हर क्षेत्र में सर्वांगीण विकास हो रहा है। मंत्री डॉ. मिश्रा ने सुबह दतिया स्थित निवास पर जनता से रू-ब-रू होकर समस्याओं का निराकरण किया। गृह मंत्री डॉ. मिश्रा ने भूमि-पूजन समारोह में संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का प्रदेश की बहनों को दी गई सौगात के लिये आभार माना। उन्होंने कहा कि बहनों के लिये 10 जून ऐतिहासिक दिवस रहा है। मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना में बहनों के खाते में 1000 रूपये की राशि भेजी गई है। धीरे-धीरे यह राशि बढ़ कर 3000 रूपये प्रतिमाह हो जायेगी। सरकार द्वारा नारी सशक्तिकरण के लिये निरंतर प्रयास किये जाते रहे हैं। मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना सामाजिक क्रांति लायेगी। बहनों को आत्म-निर्भरता की ओर ले जायेगी। मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि बहनों को चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। जिनके खाते में राशि नहीं पहुँची है, वे अपने बैंक खातों में केवाईसी एवं डीबीटी अवश्य करा लें। गृह मंत्री डॉ. मिश्रा ने दतिया में 25 करोड़ रूपये की लागत से निर्मित होने वाली क्रिटिकल केयर यूनिट का भूमि-पूजन किया। इसका निर्माण दतिया मेडिकल कॉलेज परिसर में किया जा रहा है। डॉ. मिश्रा ने कहा कि क्रिटिकल केयर यूनिट निर्मित हो जाने से दतियावासियों को ब्रेन स्ट्रोक, सर्पदंश और जहर-खुरानी जैसी गंभीर परिस्थितियों में त्वरित उपचार मिल सकेगा। उन्हें अन्यत्र स्थानों पर नहीं जाना पड़ेगा। दतिया में ही समय पर बेहतर इलाज मिल सकेगा।

7 करोड़ की सड़क का भूमि-पूजन

मंत्री डॉ. मिश्रा ने हिनौतिया में 2 करोड़ 7 लाख रूपये की लागत से निर्मित होने वाली चिरोल-हिनौतिया सड़क निर्माण कार्य का भूमि-पूजन किया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा हर क्षेत्र में सड़कों का जाल बिछाया गया है। आवश्यकता अनुसार सड़कें निरंतर निर्मित की जा रही हैं। डॉ. मिश्रा ने सड़क निर्माण एजेंसी को गुणवत्तापूर्ण कार्य करने के निर्देश दिये। उन्होंने ग्रामीणों से भी आहवान किया कि वे भी बन रही सड़क की मॉनिटरिंग करें।


आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय 10 हजार से बढ़ा कर 13 हजार रूपए होगा: मुख्यमंत्री श्री चौहान

11 Jun 2023
भोपाल।इंसेंटिव के रूप में प्रतिवर्ष होगी 1000 रूपए की वृद्धि
सेवानिवृत्ति पर आँगनवाड़ी कार्यकर्ता को एक लाख 25 हजार, सहायिका को एक लाख रूपये मिलेंगे
5 लाख रूपए का होगा बीमा
मिनी आँगनवाड़ी कार्यकर्ता को मिलेगा 6 हजार 500 रूपये प्रतिमाह मानदेय सहायिका से आँगनवाड़ी कार्यकर्ता पर पदोन्नति के लिये 50% पद आरक्षित होंगे
मुख्यमंत्री श्री चौहान आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के सम्मेलन में हुए शामिल

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय 10 हजार रूपए से बढ़ा कर 13 हजार रूपए किया जाएगा। मानदेय में इंसेंटिव के रूप में 1000 रूपए की वृद्धि प्रतिवर्ष की जाएगी। आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना का 1000 रूपए प्रति माह अलग से प्राप्त होगा। मिनी आँगनवाड़ी कार्यकर्ता का मानदेय भी 6 हजार 500 रूपये प्रतिमाह कर दिया गया है। आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को सेवानिवृत्त होने पर एकमुश्त एक लाख 25 हजार रूपए और सहायिकाओं को एक लाख रूपए उपलब्ध कराए जाएंगे। आँगनवाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं का 5 लाख रूपए का स्वास्थ्य और दुर्घटना बीमा कराया जाएगा। सहायिका से आँगनवाड़ी कार्यकर्ता के पद पर पदोन्नति के लिए 50 प्रतिशत पद आरक्षित होंगे। आँगनवाड़ी कार्यकर्ता को शासकीय कर्मचारी की तरह सुविधा होगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने यह घोषणा आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के भेल दशहरा मैदान में हुए सम्मेलन में की। मुख्यमंत्री भारतीय मजदूर संघ तथा मध्य प्रदेश आँगनवाड़ी कार्यकर्ता सहायिका महासंघ के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

योजनाओं के क्रियान्वयन में आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की भूमिका सराहनीय

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि शासकीय योजनाओं और कार्यक्रमों के क्रियान्वयन में आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं की भूमिका सराहनीय है। लाड़ली लक्ष्मी और मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के‍क्रियान्वयन में आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का महत्वपूर्ण योगदान रहता हैं। मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना को लागू करवाने में आँगनवाड़ी की बहनों ने कठिन परिश्रम किया है, जो अभिनन्दनीय है। बहनों ने कम समय में दिन-रात एक कर एक करोड़ 25 लाख पंजीयन कराए, यह बड़ी उपलब्धि है। कुपोषण कम करने के लिए आँगनवाड़ी कार्यकर्ता-सहायिकाओं के सतत प्रयास जारी हैं।मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमारी सरकार ने आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के परिश्रम और उनके द्वारा समाज के लिए किए जा रहे कार्यों का सदैव सम्मान किया है और समय -समय पर मानदेय में वृद्धि की है।

मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना सामाजिक क्रांति की एक महत्वपूर्ण कड़ी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना, मेरे अंतर्मन से ‍निकली योजना है। भारत में प्राचीनकाल में महिलाओं का बहुत सम्मान था, परंतु देश के गुलाम होने के बाद महिलाओं के साथ अन्याय हुआ। ऐतिहासिक कारणों के परिणामस्वरूप घरों में भी महिलाएँ दोयम दर्जे के व्यवहार की शिकार हुईं। अपनी छोटी-मोटी जरूरतों के लिए भी बहने दूसरों पर निर्भर थीं। उनकी स्थिति में सुधार के लिए ही प्रदेश में लाड़ली लक्ष्मी योजना, कन्या विवाह योजना, अन्य प्रोत्साहन गतिविधियाँ और महिला सशक्तिकरण के लिए योजनाएँ क्रियान्वित की गईं। लाड़ली बहना योजना भी इस सामाजिक क्रांति की एक महत्वपूर्ण कड़ी है। सम्मेलन में भारतीय मजदूर संघ और मध्यप्रदेश आँगनवाड़ी कार्यकर्ता सहायिका महासंघ के प्रतिनिधियों ने भी अपने विचार रखे।


राज्य सरकार युवाओं को अवसर देकर उनके सपनों को पूरा करने संकल्पित : मंत्री श्रीमती सिंधिया

9 Jun 2023
भोपाल।तकनीकी शिक्षा कौशल विकास एवं रोज़गार मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया की उपस्थिति में मध्यप्रदेश राज्य कौशल विकास और रोज़गार निर्माण बोर्ड ने बेंगलुरू स्थित व्यावसायिक प्रशिक्षण और सामाजिक परिवर्तन फ़ाउंडेशन उन्नति संस्था के साथ 50 हज़ार युवाओं के रोज़गार कौशल प्रशिक्षण के लिए 3 साल से अधिक के लिए साझेदारी की है। संस्था प्रथम वर्ष में 15 हज़ार युवाओं को रोज़गार कौशल में प्रशिक्षित करेगी। तकनीकी शिक्षा मंत्री श्रीमती सिंधिया ने कहा कि हम युवाओं के सपनों को पूरा करने और उन्हें हासिल करने के अवसर उपलब्ध कराने के लिए संकल्पित है। युवाओं को उच्च स्तरीय प्रशिक्षण देकर उनके कौशल को निखारने के उद्देश्य से ग्लोबल स्किल्स पार्क का निर्माण प्रगतिरत है। उन्होंने कहा कि इस प्रशिक्षण कार्यक्रम से युवाओं को अंग्रेज़ी संचार, आत्म-विश्वास निर्माण निरंतर सीखने और इंटरव्यू क्रेक करने की क्षमता से जुड़े 4 प्रमुख क्षेत्रों में मदद मिलेगी। श्रीमती सिंधिया ने ऑनलाइन जुड़े बोइंग एवं इंफोसिस कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों से भोपाल में विकसित किए जा रहे ग्लोबल स्किल्स पार्क में अपनी कंपनी की लेब स्थापित कर मध्यप्रदेश के छात्रों को रोज़गार हेतु प्रशिक्षित करने का आग्रह किया । उल्लेखनीय है कि शासकीय डिग्री, आईटीआई, पॉलिटेक्निक और इंजीनियरिंग कॉलेज के अंतिम वर्ष के छात्रों के लिए उन्नति संस्था द्वारा कार्यक्रम UNXT में विभिन्न सरकारी कॉलेजों के छात्रों को नि:शुल्क प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसकी अवधि लगभग 165 घंटे होगी जो 30 दिनों में पूर्ण की जाएगी। कक्षा में ऑफ़लाइन-सत्र प्रतिदिन 3 घंटे की कक्षाओं के साथ लगभग 90 घंटे का होता है। ऑनलाइन मॉड्यूल 75 घंटे तक चलता है, जिसमें युवाओं की मदद के लिए 600 से अधिक लघु वीडियो और 3 हज़ार से अधिक प्रश्न उपलब्ध है। प्रशिक्षण पूर्ण होने के साथ ही उन्नति संस्था द्वारा शत-प्रतिशत जॉब गारंटी भी दी जा रही है। एमपीएसएसडीईजीबी UNXT कार्यक्रम के सहयोग से युवाओं को स्पोकेन इंग्लिश, जीवन-कौशल, मानव-संसाधन से संबंधित कौशल और मूल्य आधारित जीवन-कौशल में प्रशिक्षित करेगा।


नाबार्ड की वाड़ी परियोजना से आदिवासी परिवारों में तरक्की

8 Jun 2023
भोपाल।नाबार्ड द्वारा आज से पांच दिवसीय आम महोत्सव 6.0 की शुरुआत की गई। यह महोत्सवर आगामी 12 जून तक राजधानी भोपाल के बिट्टन मार्केट स्थित नाबार्ड के क्षेत्रीय कार्यालय में आयोजित किया गया है। इस महोत्सव का शुभारंभ मुख्य अतिथि श्री हेमंत कुमार सोनी प्रभारी-महाप्रबंधक , भारतीय रिजर्व बैंकद्वारा किया गया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि भारत सरकार की वित्तीय समावेशन की नीतियों से किसानों को लाभ पहुंच रहा है। उन्होंने कहा कि आदिवासी किसानों को उनके द्वारा नाबार्ड की वाड़ी परियोजना के माध्यम से उत्पादित आमों को विपणन मंच मिला है। इस मौके पर नाबार्ड, क्षेत्रीय कार्यालय, भोपाल के मुख्य महाप्रबंधक श्री सुनील कुमार ने कहा कि इस आम महोत्सव का उद्देश्य किसानों को मार्केटिंग का प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराना है। उन्होंने कहा कि नाबार्ड ने किसानों के हितों के लिए वाड़ी परियोजना की स्थापना की है। इससे आदिवासियों का सशक्तीकरण होगा। श्री बिनोद कुमार मिश्रा, मुख्य महाप्रबंधक, भारतीय स्टेट बैंक ने अपने संबोधन में कहा कि नाबार्ड की आम महोत्सव की इस अनूठी पहल ने आदिवासी किसानों को उनके उत्पादों के लिए बाज़ार की उपलब्धता सुनिश्चित करने का प्रयास किया है, जिसके लिए उन्होंने नाबार्ड की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि शहरवासियों को रसायन मुक्त आम मिले और आम उत्पादक किसानों को उनके उत्पाद का उचित मूल्य, इससे बेहतर और क्या हो सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि यह वाडी परियोजना किसानों के लिए पेंशन योजना की तरह है। उन्होंने उच्च गुणवत्ता के फल प्रदान करने के लिए किसानों का आभार व्यक्त किया। श्री तरसेम सिंह जीरा,संयोजक, एसएलबीसी एवं महाप्रबंधक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने अपने सम्बोधन में भारत की ग्रामीण समृद्धि में नाबार्ड के योगदान की प्रशंसा की। पूरे मध्य प्रदेश राज्य से किसानों को राजधानी भोपाल में बुलवाकर विपणन का मंच प्रदान करने के लिए उन्होंने नाबार्ड के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने यह भी कहा कि नाबार्ड स्वयं सहायता से जुड़े लोगों के लिए भी इस प्रकार के आयोजन करता रहा है। उन्होंने सभी किसानों को आश्वस्त किया कि बैंकिंग व्यवस्था की ओर से उन्हें पूर्ण सहयोग मिलता रहेगा।   इस अवसर पर श्री पीएस तिवारी, प्रबंध निदेशक अपेक्स बैंक ने वाडी परियोजना को पर्यावरण के लिए भी महत्वपूर्ण बताया क्योंकि जितने अधिक पेड़ लगेंगे उतना ही हम ग्लोबल वार्मिंग की समस्या से बचे रहेंगे। नाबार्ड ग्रामीण भारत के विकास के लिए केवल वाडी परियोजना ही नहीं कार्यान्वित कर रहा है बल्कि ग्रामीण गोदाम और कई अन्य योजनाएँ भी चला रहा है। उन्होंने किसानों के जीवन में समृद्दि आने की भी प्रार्थना की। इस अवसर पर आदिवासी परिवारों द्वारा उत्पादित आमों की बिक्री हेतु लगाए गए स्टालों का उद्घाटन और फल वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। महोत्सव के शुभारंभ के अवसर पर नाबार्ड के सभी अधिकारी, कर्मचारी, नाबार्ड द्वारा संचालित वाड़ी परियोजना के लाभार्थी जैसे आदिवासी किसान तथा कृषक उत्पादक संगठन के सदस्य उपस्थित रहे।आम प्रेमियो ने आदिवासी किसानो के खेतो से सीधे उपलब्ध कराये गए रसायन मुक्त आमों की विभिन्न किस्मों जैसे सुन्दरजा, नूरजहाँ, केसर, चोसा, लंगडा, आम्रपाली,दशहरीइत्यादि एवं उनसे बने उत्पादो के स्वाद का भरपूर आनंद लिया।


जबलपुर में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का मुख्य कार्यक्रम होना प्रदेश का सौभाग्य - मुख्यमंत्री श्री चौहान

8 Jun 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि यह हमारा सौभाग्य है कि मध्यप्रदेश को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के राष्ट्रीय कार्यक्रम की मेजबानी का अवसर मिला है। जबलपुर में होने वाले इस कार्यक्रम की व्यापक स्तर पर तैयारियाँ जारी हैं। केन्द्रीय आयुष मंत्रालय, श्री रामचंद्र मिशन हार्ट फुलनेस संस्थान, जन अभियान परिषद और योग आयोग के सहयोग से प्रदेश की सभी शालाओं, वार्ड, ग्राम और योग को समर्पित संस्थाओं को योग दिवस कार्यक्रम से जोड़ा जाएगा। वसुधैव कुटुम्बकम् के लिए योग की थीम पर हो रहे इस कार्यक्रम से जन-जन को योग की सकारात्मकता से जुड़ने का मौका मिलेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान, केंद्रीय आयुष मंत्री श्री सर्वानंद सोनोवाल के साथ अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस-21 जून को जबलपुर में होने वाले राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रम के लिए जारी तैयारियों की निवास कार्यालय में समीक्षा कर रहे थे। केन्द्रीय मंत्री श्री सोनोवाल ने कहा कि कार्यक्रम से 25 करोड़ लोगों को जोड़ा जाएगा। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन में योग को मानव जीवन का अभिन्न हिस्सा बनाने के प्रयास व्यापक स्तर पर जारी हैं। जन-भागीदारी को प्रोत्साहित कर योग को जन-आंदोलन का स्वरूप दिया जा सकता है। इस दिशा में मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व में योग के विस्तार के लिए हुए कार्य सराहनीय हैं। जन-जन योग को आत्मसात करें, इसके लिए सूचना, शिक्षा और संचार की गतिविधियों का अधिक से अधिक विस्तार जरूरी है। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर होने वाले योग कार्यक्रमों की जानकारी भी दी। बताया गया कि मुख्य कार्यक्रम जबलपुर के गैरिसन ग्राउण्ड में सुबह 6 बजे शुरू होगा। कार्यक्रम में उप राष्ट्रपति श्री जगदीप धनखड़ और मध्यप्रदेश के राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल की सहभागिता प्रस्तावित है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का रिकार्डेड संदेश प्रसारित किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान, केन्द्रीय आयुष मंत्री श्री सर्वानंद सोनोवाल भी शामिल होंगे। प्रदेश के सभी पर्यटन एवं ऐतिहासिक स्थल, नगरीय निकाय और ग्राम पंचायतों में भी योग कार्यक्रम होंगे। कार्यक्रम में पतंजलि योग पीठ, आर्ट ऑफ लिविंग सहित अनेक योग संस्थाएँ शामिल होंगी। केन्द्र शासन द्वारा जारी योगा प्रोटोकॉल के अनुसार योगाभ्यास होगा। आयुष राज्य मंत्री श्री रामकिशोर नानो कांवरे, अध्यक्ष मध्यप्रदेश योग आयोग श्री वेदप्रकाश शर्मा, प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरूण शमी, प्रमुख सचिव आयुष श्रीमती सोनाली वायंगणकर उपस्थित थे। मध्यप्रदेश जन-अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री जितेन्द्र जामदार जबलपुर से वर्चुअली शामिल हुए। कलेक्टर जबलपुर ने तैयारियों की जानकारी दी।


प्रदेश में रिवर क्रूज़ टूरिज्म आरंभ होगा: मुख्यमंत्री श्री चौहान

8 Jun 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में पर्यटन गतिविधियों को प्रोत्साहित करने के लिए रिवर क्रूज़ टूरिज्म का भी उपयोग किया जाएगा। इससे पर्यटक नर्मदा नदी के आस-पास उपलब्ध प्राकृतिक सौन्दर्य और जैव-विविधता से रू-ब-रू हो सकेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान की अध्यक्षता में निवास कार्यालय में हुई बैठक में जानकारी दी गई कि नर्मदा नदी में बड़वानी से गुजरात स्थित स्टेच्यु ऑफ यूनिटी तक क्रूज़ का संचालन आरंभ किया जाएगा। क्रूज़ 135 किलोमीटर की दूरी तय करेगा। बरगी से मंडला तक भी क्रूज़ का संचालन आरंभ होगा। केंद्रीय आयुष मंत्री श्री सर्वानंद सोनोवाल, प्रदेश के आयुष राज्य मंत्री श्री (स्वतंत्र प्रभार) रामकिशोर नानो कांवरे, प्रमुख सचिव पर्यटन एवं संस्कृति श्री शिव शेखर शुक्ला सहित भारतीय अंतर्देशीय जल मार्ग प्राधिकरण के अधिकारी उपस्थित थे।


21 जून-अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर जबलपुर में होगा राष्ट्रीय स्तर का आयोजन

7 Jun 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर राष्ट्रीय स्तर का मुख्य आयोजन 21 जून को जबलपुर में होगा। वसुधैव कुटुम्बकम के लिए योग की थीम पर होने वाला राष्ट्रीय स्तर का यह कार्यक्रम पूर्ण गरिमा के साथ हो और अधिकाधिक लोगों को कार्यक्रम से जोड़ा जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम के लिए जारी तैयारियों की निवास कार्यालय समत्व से जानकारी प्राप्त की। आयुष राज्य मंत्री श्री रामकिशोर नानो कांवरे, प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरूण शमी, प्रमुख सचिव आयुष श्रीमती सोनाली वायंगणकर और अधिकारी उपस्थित थे।

बताया गया कि राष्ट्रीय स्तर का मुख्य कार्यक्रम जबलपुर के गैरिसन ग्राउण्ड में प्रात: 6 बजे से आरंभ होगा। कार्यक्रम में उप राष्ट्रपति श्री जगदीप धनखड़, मध्यप्रदेश के राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल की सहभागिता प्रस्तावित है। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान, केन्द्रीय आयुष मंत्री श्री सर्वानंद सोनोवाल भी शामिल होंगे। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर प्रदेश के सभी पर्यटन एवं ऐतिहासिक स्थल, नगरीय निकाय और ग्राम पंचायतों में भी योग कार्यक्रम होंगे। बैठक में कार्यक्रम के लिए जारी तैयारियों की जानकारी भी दी गई।


राजगढ़ में 13 जून को होगा किसान-कल्याण महाकुंभ

7 Jun 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राज्य सरकार द्वारा किसान-कल्याण के लिए अनेक गतिविधियाँ संचालित की जा रही हैं। राजगढ़ जिले में लोकार्पित हो रही मोहनपुरा-कुंडालिया सिंचाई प्रणाली से क्षेत्र के किसानों की जिन्दगी बदल जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान 13 जून को राजगढ़ में होने वाले किसान-कल्याण महाकुंभ की तैयारियों की निवास कार्यालय में समीक्षा कर रहे थे। राजगढ़ कलेक्टर और अन्य अधिकारी बैठक में वुर्चअली शामिल हुए। बताया गया कि महाकुंभ में मुख्यमंत्री श्री चौहान तथा केन्द्रीय रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री किसान-कल्याण योजना की लगभग 1400 करोड़ और किसानों के ऋण ब्याज माफी की 2200 करोड़ रूपए की राशि सिंगल क्लिक से अंतरित की जायेगी। साथ ही प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में 2900 करोड़ रूपए के दावों के भुगतान का भी अंतरण किया जाएगा। इस दौरान मोहनपुरा-कुंडालिया प्रेशराइड पाइप सिंचाई प्रणाली का लोकार्पण होगा। जल जीवन मिशन की गोरखपुरा परियोजना के 156 ग्रामों में जल-प्रदाय योजना का शुभारंभ तथा जिले के 40 करोड़ रूपए लागत के कार्यों का ई-लोकार्पण और भूमि-पूजन भी किया जायेगा। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री आवासीय भू-अधिकार योजना के लाभार्थियों को अधिकार-पत्र वितरित किए जाएंगे। मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना की हितग्राही बहनें भी महाकुंभ में शामिल होंगी। राजगढ़ सहित गुना, भोपाल, रायसेन, विदिशा, सीहोर, उज्जैन, देवास, शाजापुर और आगर-मालवा के किसान भी शामिल होंगे। बैठक में आवागमन व्यवस्था, भोजन-पेयजल सहित बैठक व्यवस्था संबंधी आवश्यक निर्देश दिए गए। संपूर्ण प्रदेश के किसान, महाकुंभ से वर्चुअली जुड़ेंगे। सभी जिलों में समिति स्तर पर भी कार्यक्रम किए जाएंगे।


चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग ने किया पं. श्री प्रदीप मिश्रा की श्री शिवमहापुराण कथा स्थल का निरीक्षण 9 जून को भोपाल में निकलेगी पं. श्री मिश्रा की शोभा यात्रा

6 Jun 2023
भोपाल।भोपाल, 6 जून 2023. 10 जून से 14 जून को भोपाल में पहली बार सुप्रसिद्ध कथावाचक पं. श्री प्रदीप मिश्रा की श्री शिवमहापुराण कथा का भव्य आयोजन होने जा रहा है। इसी कड़ी में मंगलवार को चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग ने पीपुल्स मॉल के पीछे कथा स्थल का निरीक्षण कर कार्यप्रगति की समीक्षा की। इस दौरान मंत्री श्री सारंग ने कथा स्थल पर भोपाल सहित अन्य जिलों से आने वाले श्रद्धालुओं के लिये रूट प्लान के साथ ही कथा स्थल के समीप पार्किंग की व्यवस्था को लेकर प्रशासकीय अधिकारियों के साथ चर्चा की। मंत्री श्री सारंग ने निर्देश दिये है कि कथा स्थल पर प्रवेश द्वार पर कंट्रोल रूम बनाये जायें, सभी श्रद्धालु सुव्यवस्थित रूप से आवागमन कर सकें। उन्होंने कहा कि ग्रीष्म ऋतु को देखते हुए सभी श्रद्धालुओं के लिये पेयजल की समुचित व्यवस्था की जाये। निरीक्षण के दौरान भोपाल कलेक्टर श्री आशीष सिंह, एसडीएम श्री मनोज वर्मा, ट्रैफिक पुलिस सहित प्रशासकीय अधिकारीगण व स्थानीय जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे।

कथा स्थल पर श्रद्धालुओं की सुविधा के लिये व्यापक व्यवस्था

मंत्री श्री सारंग ने बताया कि पीपुल्स मॉल के पीछे, करोंद, नरेला विधानसभा में आयोजित होने जा रही तैयारियां जोरो पर है। कथा स्थल पर श्रद्धालुओं के लिये लगभग 55 एकड़ के क्षेत्र में पंडाल लगाया जा रहा है। वहीं कथा स्थल के समीप लगभग 200 एकड़ के क्षेत्र में हजारों वाहनों के पार्किंग की व्यवस्था की गई है। मंत्री श्री सारंग ने बताया कि चुंकि कथा को सुनने के लिये लाखों की संख्या में भीड़ पहुंचती है। ऐसे में किसी भी तरह की अव्यवस्था ना हो, इसके लिये कथा स्थल पर पहुंचने के लिये कुल 11 प्रवेश द्वार बनाये गये हैं। वहीं नरेला विधानसभा से आने वाले श्रद्धालुओं के लिये बसों की व्यवस्था भी गई है। उन्होंने कहा कि आयोजन की समुचित व्यवस्था के लिए जल प्रबंधन समिति, भोजन व्यवस्था, यातायात व्यवस्था, पार्किंग व्यवस्था, दर्शन समिति सहित अनेक समितियों के गठन कर प्रमुख पदाधिकारियों के साथ दो हजार से अधिक सदस्य सेवारत रहेंगे।

9 जून को भोपाल में निकलेगी पं. श्री मिश्रा की शोभा यात्रा

मंत्री श्री सारंग ने बताया कि पं श्री मिश्रा दिनांक 9 जून 2023 को भोपाल पहुंचेंगे। इस अवसर पर नरेला विधानसभा अंतर्गत अन्ना नगर से अशोका गार्डन चौराहे तक भव्य शोभा यात्रा निकाली जायेगी। उन्होंने बताया कि शहर के 200 से अधिक सामाजिक संगठनों द्वारा पं. श्री मिश्रा का स्वागत किया जायेगा।


मुख्यमंत्री श्री चौहान की पहल, युवाओं को पर्यटन क्षेत्र में भी मिलेंगे रोजगार के अवसर

6 Jun 2023
भोपाल।पर्यटन क्षेत्र में रोजगार की संभावना और स्टार्टअप शुरू करने का सपना संजोए युवाओं के लिए एक अच्छी खबर है। मुख्यमंत्री सीखों-कमाओं योजना में पर्यटन विभाग प्रदेश के युवाओं के लिए रोजगार का सुनहरा अवसर लाया है। पर्यटन के क्षेत्र में कार्य करने वाली 800 से अधिक संस्थाओं ने प्रदेश के 4 हज़ार से अधिक युवाओं को इस योजना में लाभ देने की पहल की है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के विज़न अनुरूप योजना प्रदेश के युवाओं को रोजगार के अवसर और प्रदेश की अर्थ-व्यवस्था को सुदृढ़ करने का श्रेष्ठ माध्यम है।

बड़े होटल और संस्थान से जुड़ने का अवसर

पर्यटन विभाग में सीखने वाले युवाओं को देश और प्रदेश के बड़े होटल और संस्थान से जुड़ने और काम करने का सुलभ अवसर मिलेगा। क्रिसेंट स्पा एंड वाटर पार्क इंदौर, होटल ताज भोपाल, ओरछा पैलेस ओरछा, सीएआरडी भोपाल, लेक सिटी इंटरटेनमेंट, ट्रैवल इंडिया टूरिज्म, ध्रुव एडवेंचर, होटल रिडीशन भोपाल सहित विभिन्न प्रसिद्ध होटल और संस्थान प्रदेश के युवाओं को प्रशिक्षित करेंगे।

होटल, टूर ट्रेवल्स और पर्यटन गतिविधियों में सीखने का मौका

मुख्यमंत्री सीखों कमाओं योजना में प्रदेश के प्रतिष्ठित होटल, टूर एंड ट्रैवल एजेंसी सहित पर्यटन के विभिन्न क्षेत्रों में सीखने और रोजगार के अवसर मिलेंगे। होटल में बेलबॉय, मार्केटिंग एक्जीक्यूटिव, फ्रंट ऑफिस, किचन एसिटेंस, हाउस कीपिंग, सिक्योरिटी, गार्डनिंग संबंधी स्किल टूर एंड ट्रैवल मे रिसेप्शनिस्ट, अकाउंट, पियून और सोशल मीडिया मार्केटिंग संबंधी स्किल सीखने और रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। साथ ही मीडिया एंटरटेनमेंट, मार्केटिंग, ऑडियो वीडियो प्रोडक्शन, एडवेंचर एक्टिविटीज आदि के क्षेत्र में सीखने का अवसर मिलेगा।

स्व-रोजगार और स्टार्टअप शुरू करने में मिलेगी मदद

योजना में युवाओं की न सिर्फ स्किल में वृद्धि होगी। बल्कि उनका आत्म-विश्वास भी बढ़ेगा। साथ ही साथ पर्यटन के क्षेत्र में स्टार्ट अप जैसे सिक्योरिटी एजेंसीज, एडवेंचर एक्टिविटीज एजेंसी जैसी संस्थाएं खोलने के लिए प्रेरक का कार्य करेगी।


नाबार्ड द्वारा आम महोत्सव 6.0 का आयोजन

6 Jun 2023
भोपाल।नाबार्ड की अपनी वाड़ी परियोजना के अंतर्गत आम उत्पादक आदिवासी किसानों के प्रोत्साहनके लिए नाबार्ड द्वारा विगत वर्षों की भांति इस वर्ष भी आम महोत्सव का आयोजन नाबार्ड, मध्य प्रदेश क्षेत्रीय कार्यालय, बिट्टन मार्केट में दिनांक 08 से 12 जून 2023 के दौरान किया जा रहा है। इस अवसर पर पूरे राज्य मे क्रियान्वितवाड़ी परियोजना से उत्पादित आमों के विभिन्न किस्मों जैसे सुंदरजा, केसर, चोसा, लंगडा एवं दशहरी इस आम महोत्सव मे उपलब्ध रहेंगे। यह और भी विशेष होगा कि इसमेवाड़ीयो में उत्पादित मिलेट्स एवं उनसे बने उत्पाद एवं एनटीएफ़पी उत्पाद जैसे कि शहद, सीताफल पल्प आदि भी भोपाल शहर वासियों के लिए उपलब्ध रहेंगे। इस महोत्सवके दौरान उपलब्ध आम सीधे किसानो के खेत से रहेंगे एवं इन्हे पकाने के लिए किसी भी प्रकार के रसायन का उपयोग नहीं किया गया है। नाबार्ड कृषि और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ और समृद्ध बनाने के लिए एक समर्पित शीर्ष बैंक/संस्था है और अपने इसी उद्देश्य तहत, बैंक ने एक महत्वपूर्ण पहल के रूप में 2003-04 में जनजातीय विकास कोष की स्थापना की। इस कोष के तहत, नाबार्ड के द्वारा मध्य प्रदेश में अब तक 99 परियोजनाएं स्वीकृत की गईं हैं जिससे 77000 से अधिक परिवारों को लाभ पहुंचा है एवं लगभग 73,500 एकड़ क्षेत्रफल को इस परियोजना के अंतर्गत आच्छादित किया गया है। परियोजना के माध्यम से आदिवासी किसान अपने खेतों पर विभिन्न बागवानी, कृषि और कृषि वानिकी गतिविधियों को अपनाकर अपनी पारिवारिक आय बढ़ाने में सक्षम हुए हैं जिससे संबन्धित क्षेत्र में रोजगार के लिए होने वाले पलायन को रोकने में मदद मिली है। इस योजना में केवल फलोत्पादन ही एकमात्र उद्देश्य नहीं है बल्कि इसके अंतर्गत स्वच्छता, मृदा और जल संरक्षण, बंजर भूमि को कृषि योग्य बनाना और महिलाओं को सशक्त बनाना भी शामिल है। इससे न केवल शहर वासियों को अच्छी गुणवत्ता और रसायन मुक्त आम मिल सकेंगे बल्कि इन आदिवासी किसानों को एक बाज़ार भी मिल सकेगा जिससे उनकी आय में संवर्धन होगा। नाबार्ड केवल परियोजना के कार्यान्वयन को ही महत्व नहीं देता है बल्कि उससे होने वाले लाभों और परिणामों को भी ध्यान में रखकर परियोजना के लाभार्थियों को बाज़ार की पहुँच भी उपलब्ध करवाने का प्रयास करता है। आम महोत्सव 6.0 इसी कड़ी में एक सकारात्मक कदम है। आमों के स्टाल नाबार्ड, मध्य प्रदेश क्षेत्रीय कार्यालय, बिट्टन मार्केट में लगाए जाएंगे। सभी शहर वासी रसायन मुक्त और ऑर्गैनिक आम के लिए यहाँ पधार सकते हैं। ये स्टाल दिनांक 08 जून 2023 को प्रातः 11.00 बजे से खुल जाएंगे और 12 जून तक खुले रहेंगे।


हमें पर्यावरण-संरक्षण के लिए चेतना होगा: मुख्यमंत्री श्री चौहान

5 Jun 2023
भोपाल।पौध-रोपण, बिजली- पानी की बचत और सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग न करने का लें संकल्प
प्रधानमंत्री श्री मोदी ने मिशन लाइफ का मंत्र देकर विश्व को दिशा दिखाई
मुख्यमंत्री ने विश्व पर्यावरण दिवस पर राज्य स्तरीय कार्यक्रम का शुभारंभ किया

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भौतिक प्रगति की अंधी चाह से बढ़े संसाधनों के शोषण ने प्राकृतिक संतुलन को बिगाड़ दिया है। इससे जलवायु परिवर्तन और क्लाइमेट चेंज के दुष्परिणाम सामने आ रहे हैं। वर्ष 2050 तक धरती की सतह का तापमान 2 सेंटीग्रेड बढ़ने की संभावना है। इससे जीवन कठिनतम हो जाएगा। खेती में अत्यधिक रासायनिक उर्वरक और कीटनाशकों के उपयोग का परिणाम कैंसर फैलने के रूप में सामने आ रहा है। भारत की माता-बहनें हजारों सालों से प्रकृति के प्रति संवेदनशील रही हैं, पेड़-पर्वतों की पूजा में उनका प्रकृति के प्रति आदर भाव अभिव्यक्त होता था। वर्तमान पीढ़ी को भी पर्यावरण संरक्षण के लिए चेतना होगा, यदि हमने इस दिशा में सार्थक प्रयास नहीं किए तो आने वाली पीढ़ियों के लिए धरती को हम रहने लायक नहीं छोड़ पाएंगे। पर्यावरण-संरक्षण के लिए प्रत्येक व्यक्ति को पौध-रोपण, बिजली की बचत, पानी बरबाद न करने और सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग न करने का संकल्प लेना होगा। इन आदतों में परिवर्तन कर हम धरती की सेवा कर सकते हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने मिशन लाइफ (पर्यावरण के लिए जीवनशैली) का मंत्र देकर पर्यावरण-संरक्षण के लिए विश्व को दिशा दिखाई है। मुख्यमंत्री श्री चौहान पर्यावरण सुरक्षा और संरक्षण के प्रति जन-जागृति के लिए विश्व पर्यावरण दिवस पर मिशन लाइफ (लाइफ स्टाइल फॉर एनवायरनमेंट) के राज्य स्तरीय कार्यक्रम का रविंद्र भवन में शुभारंभ कर रहे थे। कार्यक्रम से प्रदेश के सभी 52 जिले वर्चुअली जुड़े।

राज्य जलवायु परिवर्तन कार्य-योजना का किया विमोचन

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने तुलसी के पौधे पर जल अर्पित किया और कन्या-पूजन एवं दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने राज्य जलवायु परिवर्तन कार्य-योजना तथा प्रदेश के सात स्मार्ट शहर भोपाल, इंदौर, उज्जैन, ग्वालियर, जबलपुर, सतना और सागर के क्लाइमेट एक्शन प्लान पुस्तिकाओं का विमोचन किया। साथ ही प्रदेश की तीन नवीन रामसर साइट्स सिरपुर वेटलेंड इंदौर, यशवंत सागर इंदौर और सांख्य सागर शिवपुरी के प्रमाण-पत्र भी संबंधित पदाधिकारियों को प्रदान किए। मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा क्लाइमेट चेंज पीएच-डी फैलोशिप के स्वीकृती पत्र 5 शोधार्थियों को प्रदान किए गए।

मिशन लाइफ थीम पर एक लाख से अधिक कार्यक्रम करने वन विभाग सम्मानित

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आत्म-निर्भर गो-शाला विषय पर वेस्ट-टू-वेल्थ हेकाथॉन के दो सर्वश्रेष्ठ सुझावों के पुरस्कार सर्वश्री अनिल तोमर तथा डॉयोगेंद्र कुमार सक्सेना को प्रदान किए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मिशल लाईफ की थीम पर वन विभाग द्वारा एक लाख से अधिक कार्यक्रम करने के लिए वन बल प्रमुख श्री रमेश गुप्ता को सम्मानित किया। उल्लेखनीय है कि विभिन्न विभागों द्वारा एक लाख 75 हजार कार्यक्रम मिशन लाइफ की थीम पर अब तक किए जा चुके हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भोपाल, विदिशा, रायसेन और सीहोर जिले के लाइफ वॉलेन्टियर्स युवाओं को परिचय-पत्र और प्रशिक्षण पुस्तिका भेंट की। ये युवा पर्यावरण के प्रति जागरूकता के लिए कार्य करेंगे। इस कार्यक्रम में जलवायु परिवर्तन कार्य-योजना, क्लाइमेट चेंज फैलोशिप तथा लाईफ स्टाइल फॉर इन्वारमेंट पर केन्द्रित फिल्म का प्रदर्शन भी किया गया।

भारतीय संस्कृति में नीहित हैं प्रकृति संरक्षण के संदेश

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भारतीय संस्कृति अद्भुत है। हमारे ऋषि- मुनियों ने प्रकृति से छेड़छाड़ के दुष्परिणामों को पहले से ही भाँप लिया था। भारतीय संस्कृति में यह माना जाता है कि एक ही चेतना हम सब में है। प्राणियों में भी वही चेतना है जो पुशओं में है। इसलिए गो-माता के साथ विभिन्न देवताओं के वाहनों के रूप में पशुओं की उपासना भारतीय जीवनशैली में आरंभ से ही शामिल रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक पेड़ कई जीवों को जीवन देता है। हमारी संस्कृति में वृक्षों की पूजा की जाती है। नदियों को माँ माना गया तथा गोवर्धन पूजा से पेड़-पर्वत और समग्र प्रकृति के संरक्षण का संदेश दिया गया।

पर्यावरण-संरक्षण के लिए सभी तत्वों में संतुलन आवश्यक- सांसद सुश्री ठाकुर

भोपाल सांसद सुश्री प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा कि मानव जीवन जिन तत्वों से बना है उनकी रक्षा और उनमें परस्पर संतुलन बनाए रखना जरूरी है। वेदों में भी सभी तत्वों के संतुलन पर बल दिया गया है। किसी भी तत्व का विकराल रूप लेना मानव जीवन के लिए हानिकारक है। पर्यावरण-संरक्षण इस संतुलन को बनाए रखने का एक प्रयास है। जीवन की निरंतरता के लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा दिये गए मिशन लाइफ के मंत्र का अनुसरण आवश्यक है। प्रमुख सचिव श्री गुलशन बामरा ने बताया कि राज्य स्तरीय कार्यक्रम में पर्यावरण-संरक्षण के क्षेत्र में सक्रिय संस्थाओं के प्रतिनिधि, पर्यावरण प्रेमी तथा भोपाल, राजगढ़, रायसेन और सीहोर के लाइफ वॉलेंटियर शामिल हैं।

मध्यप्रदेश वार्षिक पर्यावरण पुरस्कार

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मध्यप्रदेश वार्षिक पर्यावरण पुरस्कार भी प्रदान किए। इसमें अत्यंत प्रदूषणकारी उद्योगों की श्रेणी में मेसर्स नवीन फ्लोरीन इंटरनेशनल देवास, सामान्य उद्योगों की श्रेणी में मेसर्स जॉन डियर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड देवास, खनिज उत्खन्न में मैहर जिला सतना की आरसीसीपीएल प्राइवेट लिमिटेड, लघु उद्योगों में ट्राइटेंड डिटर्जेंट, चिकित्सालय श्रेणी में अमृता हॉस्पिटल शहडोल, शिक्षण संस्था श्रेणी में शासकीय पूर्व प्राथमिक प्रशिक्षण संस्थान जबलपुर, सेज इंटरनेशनल कोलार रोड भोपाल और एनजीओ श्रेणी में मृत्युन्जय जीवन धारा हेल्थ केयर चेरिटेबल ट्रस्ट देवास को प्रमाण-पत्र और स्मृति-चिन्ह भेंट किए गए।


पाठ्य-पुस्तक में भगवान परशुराम की जीवन गाथा शामिल होगी: मुख्यमंत्री श्री चौहान

4 Jun 2023
भोपाल।परशुराम जन्म-स्थली जानापाव दिव्य और भव्य केंद्र के रूप में उभरेगा
संस्कृत विद्यालय के विद्यार्थियों को प्रोत्साहन राशि और निर्धन
विद्यार्थियों को देंगे उच्च शिक्षा भोपाल के जम्बूरी मैदान में हुआ ब्राह्मण महाकुंभ

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में इंदौर के निकट, भगवान परशुराम की जन्म-स्थली जानापाव को अध्यात्म और पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जा रहा है। जानापाव एक दिव्य और भव्य केन्द्र के रूप में उभर कर आएगा। राज्य शासन ने भगवान परशुराम जयंती पर सार्वजनिक अवकाश के साथ मंदिरों के पुजारियों के लिए मानदेय और संस्कृत विद्यालय में अध्ययन करने वाले विद्यार्थियों, जो धार्मिक संस्कारों को सम्पन्न करवाने में दक्ष हो रहे हैं, को प्रोत्साहन राशि देने की व्यवस्था की है। कक्षा एक से 5वीं तक के विद्यार्थियों के लिए 8 हजार और कक्षा 6वीं से 12वी तक के विद्यार्थियों को 10 हजार रूपए की राशि देने की पहल की गई है। पाठ्य-पुस्तकों में भगवान परशुराम की जीवन गाथा भी पढ़ाई जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज जंबूरी मैदान, भोपाल में ब्राह्मण महाकुंभ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मंदिरों की भूमि को कलेक्टर द्वारा एक वर्ष के लिए नीलाम करने के पूर्व के प्रावधान में परिवर्तन कर यह अधिकार पुजारी को दिया गया है। साथ ही मंदिर में पूजा, आराधना और आरती जैसे कार्यों के लिए पुजारी को सहयोग देना आवश्यक है। बिना कृषि भूमि क्षेत्र के मंदिरों के लिए 5 हजार रूपए की मासिक राशि प्रदान करने के साथ ही मंदिरों का सर्वे करवाने का कार्य किया जाएगा। ब्राह्मण समाज के मेधावी और आर्थिक रूप से कमजोर विद्यार्थियों को मेडिकल, इंजीनियरिंग और अन्य उच्च शिक्षा संस्थानों में शिक्षा सुविधा दी जाएगी। ब्राह्मण समाज के लिए भोपाल में उपलब्धता के आधार पर भूमि का प्रबंध किया जाएगा, जिससे शिक्षण व्यवस्थाओं और सामाजिक कार्यों के लिए व्यवस्थाएँ करने में आसानी हो। पृथक आयोग या बोर्ड गठित करने के सुझाव पर भी समाज के प्रमुख व्यक्तियों से चर्चा और विचार-विमर्श के बाद आवश्यक निर्णय लिया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जो ब्रह्म या ईश्वर को जान ले वह ब्राह्मण है। भारतीय जीवन-मूल्यों और संस्कृति को संरक्षित करने का कार्य ब्राह्मणों ने किया है। आज भारत के एक होने का प्रमुख कारण आदि शंकराचार्य जी द्वारा भारत को जोड़े जाने का किया गया महत्वपूर्ण कार्य है। ओंकारेश्वर में शंकराचार्य जी की प्रतिमा स्थापना और अद्वैत संस्थान स्थापित करने का कार्य चल रहा है। हमारी परम्पराएँ हों या साहित्य का क्षेत्र या विज्ञान, राजनीति, भूगोल आदि का क्षेत्र, ऐसी कोई विधा नहीं है जिसमें ब्राह्मण दक्ष नही हैं, यदि चाणक्य नहीं होते तो चंद्रगुप्त भी नहीं होते। भारत के स्वतंत्रता आन्दोलन के लिए पहली गोली मंगल पाण्डे की चली थी। बिस्मिल हों या चंद्रशेखर आजाद, आजादी के लिए इन्होंने प्राण न्योछावर किए। ब्राह्मण समाज से ही टैगोर, लता दीदी और माखनलाल चतुर्वेदी हुए। ब्राह्मण समाज की प्रतिभाएँ अनेक क्षेत्र में विलक्षण कार्य कर चुकी हैं। लोक निर्माण मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि ब्राह्मण समाज निर्धन बच्चों की शिक्षा, निर्धन परिवारों की बेटियों के विवाह, दुर्घटना या अन्य संकट की परिस्थितियों में परस्पर सहयोग का उदाहरण प्रस्तुत करे। इस भावना का विस्तार आवश्यक है। ब्राह्मण वर्ग बुद्धि,ज्ञान और चरित्र की शक्ति के उपयोग से विभिन्न क्षेत्र में सफल हुआ है। आज समाज के बंधुओं द्वारा युवाओं को मद्यपान न करने और अन्य अवगुणों से बचने के लिए निरंतर मार्गदर्शन देने की आवश्यकता है। पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री सुरेश पचौरी ने कहा कि ब्राह्मण समाज सभी के कल्याण की कामना करता है। हमारा दायित्व है कि समाज के ऐसे लोगों को शिक्षित करें जो अर्थ के अभाव में शिक्षा ग्रहण नहीं कर पा रहे हैं। सांसद श्री विष्णु दत्त शर्मा ने कहा कि ब्राह्मण वर्ग ने धर्म और संस्कृति के संरक्षण और शासन व्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। आदि शंकराचार्य ने राष्ट्र को एक सूत्र में बांधा। आध्यात्मिक क्षेत्र में समाज का योगदान निरंतर मिल रहा है। विजयराघवगढ़ में भगवान परशुराम जी की 108 फीट प्रतिमा की स्थापना की पहल की गई है। श्री सुमित पचौरी ने ब्राह्मण समाज की ओर से 11 सूत्री सुझाव-पत्र पढ़ा। कार्यक्रम को स्वामी सदानंद सरस्वती, शंकराचार्य द्वारका शारदा पीठ ने भी संबोधित किया। पत्रकार श्री विनोद तिवारी और श्रीमती पूर्वा त्रिवेदी ने संचालन किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान का स्वागत कर स्मृति-चिन्ह भेंट किया गया। पूर्व मंत्री श्री संजय सत्येंद्र पाठक और श्री पी.सी. शर्मा, विधायक श्री रामेश्वर शर्मा, पूर्व महापौर श्री आलोक शर्मा, दैनिक स्वदेश के प्रधान संपादक श्री राजेंद्र शर्मा और श्री सुरेंद्र तिवारी, ब्राह्मण समाज के अनेक प्रतिष्ठित जन उपस्थित थे।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सम्मेलन स्थल पर सफाई कर दिया स्वच्छता का संदेश

4 Jun 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल के भेल दशहरा मैदान में अ.भा. किरार, धाकड़, नागर, मालव सम्मेलन के समापन पर सम्मेलन स्थल पर अपशिष्ट तथा कचरे की सफाई कर नागरिकों को स्वच्छता का संदेश दिया। मुख्यमंत्री श्री चौहान के साथ उनकी धर्मपत्नी और अ.भा. किरार समाज की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती साधना सिंह चौहान, समाज के पदाधिकारियों और अन्य लोगों ने भी सफाई कार्य में सहभागिता की।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सामाजिक कार्यक्रम में भाग लेने वालों को साफ-सफाई और स्वच्छता का विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए। सामाजिक संगठनों का यह दायित्व है कि वे कार्यक्रम समापन के बाद स्थल पर फैले कचरे और अपशिष्ट को स्वयं साफ करें और यथा स्थान कचरे को डालने के लिए लोगों को प्रेरित करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भोजन की टेबल और नीचे पड़ी भोजन सामग्री सहित अन्य अपशिष्ट थेले में डाले। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सफाईकर्मियों के साथ ग्रुप फोटो करवाकर उनका उत्साह बढ़ाया।


मुख्यमंत्री श्री चौहान के निर्देश पर जारी है भू-माफियाओं के खिलाफ कार्यवाही

3 Jun 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर रतलाम जिले में भू-माफिया के विरुद्ध कार्रवाई लगातार जारी है। शनिवार को शहर की सूरज मल जैन कॉलोनी के समीप 34 पीड़ितों को उनके भू-खंडों पर कब्जा दिलाया गया, जो लंबे समय से अपने भू-खंड पर कब्जा न मिलने से परेशान थे। कलेक्टर के निर्देश पर राजस्व अमले द्वारा विस्तृत छानबीन कर उनके वास्तविक खरीदारों को भू-खंडों पर कब्जा दिलाया गया। अपने भू-खंड पाकर प्रसन्न नागरिकों ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को धन्यवाद दिया, जिनके सुशासन एवं निर्देश पर पीड़ितों को न्याय मिला और वे अपने भू-खंड पर पुन: काबिज हो सके। बताया गया कि वर्ष 1994 से लेकर उसके बाद तक की अवधि में एहसान मुकाती द्वारा विभिन्न खरीदारों को भू-खंड तो बेचे गए, परंतु भू-खंड का कब्जा नहीं दिया गया था।

शिवराज मामाजी के नाम पर रखेंगे कॉलोनी का नाम

भू-खंड का कब्जा मिलने पर लाभार्थी श्री आशीष पाटीदार ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा माफियाओं के विरुद्ध की जा रही कार्रवाई का ही परिणाम है कि हम लोगों को अपने प्लाट पर कब्जा मिला है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के नाम पर अपनी कॉलोनी का नाम रखेंगे।


भारत-नेपाल के बीच संबंधों में नए इतिहास की शुरूआत: नेपाल के प्रधानमंत्री श्री प्रचंड

2 Jun 2023
भोपाल।श्री प्रचंड ने मध्यप्रदेश में हुए विकास कार्यों को अभूतपूर्व बताया भारत एवं नेपाल की संस्कृति, सभ्यता और परम्पराएँ एक जैसी : मुख्यमंत्री श्री चौहान
नेपाल के प्रधानमंत्री श्री प्रचंड को अपने बीच पाकर हम अभिभूत हैं मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा श्री प्रचंड के सम्मान में दिया गया रात्रि भोज

नेपाल के प्रधानमंत्री श्री पुष्प कमल दहल 'प्रचंड' ने कहा है कि भारत और नेपाल के बीच संबंधों में नए इतिहास की शुरूआत हुई है। भारत और नेपाल के बीच संबंधों में नए आयाम जुड़े है। यह बात उन्होंने मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा आज उनके सम्मान में इंदौर में दिये गये रात्रि-भोज में कही।
नेपाल के प्रधानमंत्री श्री प्रचंड ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का मुलाकात के दौरान कहना कि हम अपने रिश्तों को हिमालय जितनी ऊँचाई देने के लिए काम करते रहेंगे और इसी भावना से हम सभी मुद्दों का, चाहे देश की सीमा का हो या कोई और विषय, सभी का समाधान करेंगे। यह हमारे लिये खुशी और गर्व का विषय है। श्री प्रचंड ने कहा कि मेरा प्रधानमंत्री के रूप में चौथी बार भारत भ्रमण हो रहा है। इस बार प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत और नेपाल के बीच जो सहमति हुई है, यह दूर तक जाने वाली सहमति है। कनेक्टीविटी, वॉटर रिसोर्स और ऊर्जा के क्षेत्र में जो सहमति बनी है, उसके दूरगामी परिणाम मिलेंगे। मैं नेपाल जाकर नेपाली जनता को बताऊँगा कि भारत और नेपाल के बीच संबंधों में नए इतिहास की शुरूआत हुई है। भारत-नेपाल के संबंधों में नए आयाम जुड़े है। इसको मजबूत करना हम सबका कर्त्तव्य है। श्री प्रचंड ने कहा कि मध्यप्रदेश में गर्मजोशी से स्वागत हुआ है वह अविस्मरणीय है। भगवान श्री महाकाल के दर्शन करने का मेरा सपना साकार हुआ है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में हुए विकास कार्य अभूतपूर्व है। इसके लिये उन्होंने मुख्यमंत्री श्री चौहान को बधाई दी।
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश की 9 करोड़ जनता और राज्य शासन की ओर से प्रधानमंत्री श्री प्रचंड का स्वागत अभिनंदन है। उन्होंने कहा कि श्री प्रचंड को हमारे बीच पाकर हम अभिभूत है, उनका स्वागत कर हम गौरवांवित हो रहे है। उन्होंने कहा कि हमारी संस्कृति, सभ्यता और परम्पराएँ लगभग एक जैसी है। ऐसा लग रहा है कि अपनों के बीच अपने ही आये है।
कार्यक्रम का संचालन सांसद श्री शंकर लालवानी ने किया।


स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

2 Jun 2023
भोपाल।मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग ने पाँव पखारकर वृद्धजनों का किया सम्मान
देशभर में सोशल मीडिया पर नं.1 पर ट्रेंड हुआ मातृपितृभक्ति दिवस नरेला विधानसभा में हुआ 35 हज़ार से अधिक बुजुर्गों का सम्मान

भाजपा के संस्थापक सदस्य पूर्व सांसद स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती को संपूर्ण देश में 'मातृ-पितृ भक्ति दिवस' के रूप में मनाया गया। नरेला विधानसभा के सभी 17 वार्ड में मंत्री श्री सारंग के साथ कार्यकर्ताओं ने 35 हज़ार से अधिक बुजुर्गों के पाँव पखारने के साथ ही आरती उतार कर उनका सम्मान किया। इस अवसर पर सभी वृद्धजन भाव-विभोर ऩजर आये। सभी ने मंत्री श्री सारंग द्वारा किये गये सम्मान को सहर्ष स्वीकार कर उन्हें आशीर्वाद दिया। इसके साथ ही सोशल मीडिया पर भी हैशटैग मातृपितृभक्ति दिवस के साथ खासकर युवा पीढ़ी ने अपने माता-पिता के साथ ही आसपास के वृद्धजनों को सम्मानित कर उनके फोटो-वीडियो फेसबुक, ट्विटर समेत विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपलोड किये।

मंत्री श्री सारंग ने पाँव पखारकर वृद्धजनों का किया सम्मान

मंत्री श्री सारंग ने नरेला विधानसभा क्षेत्र के वृद्धजनों का सम्मान किया। उन्होंने सभी वरिष्ठों पर पुष्प-वर्षा कर उनका अभिवादन किया और उनके पाँव पखारकर आरती उतारी। अपने जन-प्रतिनिधि को पुत्र के समान अपने पाँव पखारते देख अनेक बुजुर्गों की आँखें नम हो गई। मंत्री श्री सारंग ने बुजुर्गों को शॉल-श्रीफल, साड़ी, स्मृति-चिन्ह और शमी का पौधा भी भेंट किया। कार्यक्रम में हजारों की संख्या में पधारे सभी वृद्धजनों के पेयजल, स्वल्पाहार एवं भोजन की भी व्यवस्था की गई थी।

हर घर में हुआ माता-पिता का पूजन

मंत्री श्री सारंग के आह्वान पर नरेला विधानसभा के प्रत्येक घर में युवाओं ने अपने माता-पिता के पाँव पखार कर उनका सम्मान किया। मातृ-पितृ भक्ति की मिसाल पेश करते हुए हर वर्ग एवं हर समाज के लोगों ने अपनी सहभागिता सुनिश्चित की। सोशल मीडिया पर हैशटैग मातृपितृभक्ति दिवस के साथ युवाओं ने अपने माता-पिता को सम्मानित कर उनके फोटो-वीडियो फेसबुक, ट्विटर समेत विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपलोड किये।

माता-पिता का स्थान सबसे ऊँचा

मंत्री श्री सारंग ने कहा कि पूज्य पिताजी स्व. कैलाश सारंग ने अपना संपूर्ण जीवन राष्ट्र एवं जन-मानस की सेवा में समर्पित कर दिया। उनका स्वप्न था कि प्रत्येक वृद्ध का सम्मान हो। इसी उद्देश्य के साथ विगत 2 वर्षों से उनकी जयंती और पुण्य-तिथि को संपूर्ण देश में मातृ-पितृ भक्ति दिवस के रूप में मनाया जाता है। भगवान श्री गणेश, प्रभु श्री राम एवं श्रवण कुमार का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि माता-पिता की भक्ति देवों की भक्ति के समान है। उनका पूजन करने से समस्त देवों के पूजन का पुण्य प्राप्त हो जाता है।

देशभर में स्व. श्री सारंग की जयंती पर हुए कार्यक्रम

स्व. श्री कैलाश सारंग की जयंती को देश भर में 'मातृ-पितृ भक्ति दिवस' के रूप में मनाया गया। कायस्थ महासभा द्वारा अनेक स्थानों पर भोजन पैकेट, राशन, फल वितरण किया और वृद्धजनों को सम्मानित किया। वहीं कई स्थानों पर स्व. श्री सारंग की स्मृति में वृक्षारोपण एवं चिकित्सा शिविरों का भी आयोजन किया गया।

नरेला में 35 हज़ार से अधिक वृद्धजनों का हुआ सम्मान

मंत्री श्री सारंग ने नरेला विधानसभा अंतर्गत प्रभात चौराहा वार्ड-70, चाणक्यपुरी वार्ड-39 एवं 40, हनुमान मंदिर खुशीपुरा वार्ड-37, पुरुषोत्तम नगर सेमरा वार्ड-38, चांदबड़ वार्ड-36, कैनरा बैंक के समीप वार्ड-75, पुलिस चौकी के पास वार्ड-77, पीपल चौराहा वार्ड-78, देवी जी मंदिर करोंद चौराहा वार्ड-79, नेवरी मंदिर, नेहरू स्कूल चौराहा वार्ड-71, परिहार चौराहा वार्ड-41 और 69, हॉकर्स कॉर्नर वार्ड-44, सर्जना सोसाइटी वार्ड-58, शाखा ग्राउंड वार्ड-59 में लगभग 35 हजार से अधिक वृद्धजनों को सम्मानित किया।


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी का समाज कल्याण के लिए एक समग्र दृष्टिकोण : डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे

2 Jun 2023
भोपाल।डॉ. सहस्त्रबुद्धे ने पत्रकार वार्ता में कहा मोदी सरकार की हर योजना में सामाजिक कल्याण शामिल
ई-श्रम पोर्टल पर 28 करोड़ से अधिक असंगठित श्रमिकों ने पंजीकरण करवाया है, इसमें पुरुषों की तुलना में महिला पंजीकृत सदस्यों का प्रतिशत अधिक है, इस पोर्टल पर अब तक पंजीकृत सदस्यों में 52.75 प्रतिशत महिलाएं और 47.25 प्रतिशत पुरुष है।
प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत देश के ग्रामीण क्षेत्रों में 2.25 करोड़ से अधिक घरों का निर्माण किया जा चुका है।
स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत देश भर में 11 करोड़ से अधिक घरेलू शौचालय बनाए गए है।
12 करोड़ से अधिक घरों को नल के कनेक्शन दिए जा चुके हैं, जिसके बाद ग्रामीण भारत में अब 61.71 प्रतिशत घरों के पास नल कनेक्शन है।
प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत 3.32 करोड़ से अधिक लाभार्थियों को पंजीकृत किया जा चुका है, और 3.05 करोड़ से अधिक लाभार्थियों को मातृत्व लाभ के रूप में 13,766 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान किया जा चुका है।
ई-ग्राम स्वराज एप्लीकेशन के तहत पंचायती राज संस्थाओं पर फोकस करते हुए 2,46,762 ग्राम पंचायतों की जियोटैगिंग कर, 1,90,311 ग्राम पंचायतों की प्रोफाइल तैयार की गई है। अगस्त 2022 में, आयुष्मान भारत-पीएमजेएवाई के एक भाग के रूप में ट्रांसजेंडर समुदाय से संबंधित लोगों के लिए एक समावेशी और समग्र स्वास्थ्य देखभाल पैकेज की घोषणा की गई।
एक्सेसिबल इंडिया अभियान के तहत, दिव्यांग आबादी के लिए 1500 से अधिक ैपहद स्ंदहनंहम प्दजमतचतमजमते के प्रशिक्षण के साथ 1,607 सरकारी भवनों, 627 राज्य सरकार की बेवसाइटों और 95 केंद्र सरकार की बेवसाइटों को सुलभ बनाया गया है।
अनुसूचित जनजातियों के लिए विकास कार्य योजना (डीएपीएसटी) के तहत, जनजातीय मामलों के मंत्रालय के अलावा 41 मंत्रालयों/विभागों आदिवासी विकास परियोजनाओं के लिए हर साल अपने कुल योजना आवंटन से 4.3 से 17.5 प्रतिशत धन आवंटित कर रहे है।
प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के तहत मार्च 2023 तक कुल 1247.38 करोड़ रुपये ट्रांसफर किये जा चुके है।
आकांक्षी जिला कार्यक्रम के एक भाग के रूप में 49 प्रमुख प्रदर्शन संकेतकों के आधार पर 112 जिलों को विकसित किया जा रहा है।

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद के अध्यक्ष डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे ने भाजपा प्रदेश कार्यालय में पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार की 9 वर्षों की उल्लेखनीय उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। डॉ. सहस्त्रबुद्धे ने कहा कि ई-श्रम पोर्टल की स्थापना के बाद अब असंगठित श्रमिकों को मौजूदा सामाजिक कल्याण योजनाओं का लाभ मिल रहा है। इसके अलावा, ट्रांसजेंडर समुदाय से संबंधित लोगों के लिए देश भर में 12 ‘गरिमा गृह’ स्थापित किये गये हैं जो उन्हें आश्रय प्रदान कर रहे हैं। इसी तरह, देश की 2.7 लाख से अधिक दिव्यांग आबादी को लाभावन्वित करने वाली 3954 परियोजनाओं को दीनदयाल विकलांग पुनर्वास योजना के तहत 508.34 करोड़ रुपये की सहायता अनुदान जारी की गयी है। इसके अलावा 1.84 लाख दिव्यांग छात्रों को 2022 तक 556.37 करोड़ रुपये की छात्रृवृत्ति प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि देश में पहली बार पोषण ट्रेकर के तहत गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए राज्य के भीतर और बाहर एक आंगनवाड़ी केंद्र से दूसरे में प्रवास की सुविधा प्रदान की गई है। प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के तहत 2,900 से अधिक गांवों का चयन किया गया है, जिसमें 53 लाख से अधिक परिवारों के जीवन में बदलाव लाया गया है, जिसमें अनुसूचित जाति के 2.6 करोड़ से अधिक लोग शामिल हैं। वर्तमान सामाजिक कल्याण मॉडल स्वभाविक रूप से समावेशी हैं और समग्र सामाजिक कल्याण सुनिश्चित करते हुए सभी समुदायों को इसका लाभ प्रदान कर रहा है।

मोदी सरकार ने दीनदयाल जी की धारणा को साकार किया

भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद के अध्यक्ष डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के दूरदर्शी नेतृत्व में समाज कल्याण क्षेत्र में हो रहे बदलाव पर प्रकाश डालते हुए कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार ने पंडित दीनदयाल जी की धारणा ‘अंतिम व्यक्ति तक पहुंच’ के सिद्धांत को पूरा करने की दिशा में अथक प्रयास किया है। ऐसे ही अधिक जवाबदेही और पारदर्शिता के साथ सार्वजनिक वितरण प्रणाली और सुदृढ़ हुई है। प्रत्येक योजना के लिए समर्पित पोर्टल के साथ-साथ ‘आधार’ प्रणाली में लाए गए सुधार, समाज कल्याण योजनाओं के लाभ लक्षित लाभार्थियों तक सफलतापूर्वक पहुंचा रहे हैं। पीएम उज्जवला योजना, वन नेशन-वन राशन कार्ड, जल जीवन मिशन, पीएम आवास योजना, पीएम ग्राम सड़क योजना और स्वच्छ भारत मिशन जैसी योजनाओं और पहलों के साथ इस क्षेत्र में परिवर्तन की शुरुआत सभी को प्रभावित कर रही है और भारत की लोक कल्याणकारी राज्य की छवि को मजबूती दे रही है।

यूपीए और एनडीए सरकार की तुलनात्मक अध्ययन को लेकर पीपीआरसी ने जारी की रिपोर्ट

डॉ. सहस्त्रबुद्धे ने बताया कि लोक नीति शोध केंद्र (पीपीआरसी) ने ’सामाजिक न्याय से संपूर्ण विकास’ शीर्षक वाली एक रिपोर्ट जारी की, जिसमें देश में मौजूद मजबूत सामाजिक कल्याण मॉडल के मूल सार को शामिल किया गया और साथ ही इसे साबित करने के लिए चौंका देने वाले आंकड़े भी पेश किए गए। उन्होंने बताया कि यह रिपोर्ट प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के दूरदर्शी नेतृत्व में भारत के सामाजिक कल्याण के एक समग्र मॉडल को चित्रित करते हुए मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई प्रत्येक पहल या योजनाओं का विश्लेषण करती है। इसके अलावा, रिपोर्ट यूपीए और एनडीए शासन के बीच तुलना करती है, जिसमें सांख्यिकीय डेटा का उपयोग करके मोदी सरकार के तहत इस क्षेत्र में हो रहे परिवर्तन को उजागर किया गया है।

11.66 करोड़ से अधिक ग्रामीण परिवारों के लिए स्वच्छ पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित की

डॉ. सहस्त्रबुद्धे ने कहा कि 2014 में सत्ता में आने के बाद भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार ने देश में सामाजिक कल्याण के परिदृश्य को बदल दिया है। 2014 से पहले, ग्रामीण स्वच्छता कवरेज केवल 38.7 प्रतिशत था। हालांकि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश ने 2019 में खुले में शौच मुक्त (व्क्थ्) स्थिति को हासिल कर एक नयी कामयाबी को लिखा। इसी तरह 2014 से पहले 19.43 करोड़ ग्रामीण परिवारों में से 3.23 करोड़ घरों में ही नल कनेक्शन उपलब्ध थे। इसके विपरीत 4 अप्रैल, 2023 तक 11.66 करोड़ से अधिक (60 प्रतिशत) ग्रामीण परिवारों को नल कनेक्शन के दायरे में लाया गया और उनके लिए स्वच्छ पेयजल आपूर्ति को सुनिश्चित किया गया। उन्होंने कहा कि आवासीय योजनाओं का मामला भी कुछ अलग नहीं था। 2014 से पहले, ग्रामीण परिवेश के लिए चलने वाली आवासीय योजना चिंता जनक रूप से धीमी गति से बढ़ रही थी। लेकिन, प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के अंतर्गत प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत 2.25 करोड़ से अधिक घरों का निमार्ण किया हैं, जिनमें से 60 प्रतिशत अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति समुदायों को दिये गये हैं।

जनजातीय मंत्रालय के आवंटन में 190 प्रतिशत की वृद्धि हुई

उन्होंने कहा कि एनडीए शासन के तहत सामाजिक कल्याण से संबंधित मंत्रालयों के लिए बजटीय आवंटन में भी जबरदस्त वृद्धि हुई है। उदाहरण के लिए जनजातीय मामलों के मंत्रालय के लिए आवंटन में लगभग 190 प्रतिशत की वृद्धि हुई। मंत्रालय के लिए आवंटन 2013-14 में 4295.94 करोड़ रुपये से बढ़कर 2023-24 में 12461.88 करोड़ रुपये हो गया, जो 2.9 गुना वृद्धि को दर्शाता है। इसी तरह, सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग के बजट में 1.9 गुना की वृद्धि हुई, जो 91 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि को दर्शाता है, यह 2013-14 के 6725.32 करोड़ रुपये से बढ़कर नवीनतम बजट में 12,847.02 करोड़ रुपये हो गया है।

2014 के बाद जनजातीय क्षेत्रों में 523 एकलव्य आवासीय विद्यालय स्वीकृत किए

डॉ. सहस्त्रबुद्धे ने बताया कि पीपीआरसी की रिपोर्ट में भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के तहत कार्यात्मक सामाजिक कल्याण की हर योजना को भी शामिल किया गया है। स्वच्छ भारत मिशन-ग्रामीण के दूसरे चरण में 1,685,545 गांवों में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन की व्यवस्था है और 2,45,064 गावों में तरल अपशिष्ट प्रबंधन की सुविधाएं हैं, जो ओडीएफ $ स्थिति को प्राप्त करने की दिशा में काम कर रहे हैं। मिशन पोषण 2.0 के तहत देश भर में 4 लाख से अधिक पोषण वाटिकाओं का विकास किया गया है और 1.10 लाख औषधीय पौधे लगाए गए है। इस तरह बेटी बचाओ-बेटी पढाओ योजना के सफल क्रियान्वयन के बाद भारत का लिंग अनुपात 918 (2014-15) से बढ़कर 937 (2020-21) हो गया है और इसमें 19 अंकों का सुधार हुआ है। उन्होंने कहा कि 2021-22 में राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान के अंतिम चरण में 695 पंचायत भवन का निर्माण करवाया गया और 6 लाख से अधिक हितधारकों को प्रशिक्षित किया गया था। इसके अलावा, योजना के तहत 1619 पंचायत शिक्षण केंद्र बनाए गए। ऐसे ही मैला ढोने वालों के पुर्नवास एवं स्व-रोजगार योजना (एसआरएमएस) के एक भाग के रूप में, सभी 58,098 चिन्हित लोगों को 40,000 रुपये की एकमुश्त नकद सहायता का भुगतान किया गया है। जनजातीय क्षेत्रों में शिक्षा के लिए 690 एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालयों में से 523 को 2014-15 के बाद स्वीकृत किया गया है। श्री सहस्त्रबुद्धे ने पत्रकार वार्ता में राष्ट्रीय लोक नीति शोध केंद्र (पीपीआरसी) द्वारा मोदी सरकार के 9 वर्ष और यूपीए सरकार के कार्यकाल की तुलनात्मक रिपोर्ट पर पॉवर पाइंट प्रजेंटेशन प्रस्तुत किया। इस अवसर पर पार्टी की प्रदेश उपाध्यक्ष श्रीमती सीमा सिंह, प्रदेश महामंत्री एवं प्रदेश कार्यालय प्रभारी श्री भगवानदास सबनानी, सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री आशीष अग्रवाल, विधायक श्री रामेश्वर शर्मा, प्रदेश प्रवक्ता डॉ. हितेश वाजपेयी, श्री राजपाल सिंह सिसोदिया सुश्री नेहा बग्गा एवं जिला अध्यक्ष श्री सुमित पचौरी उपस्थित थे।


भोपाल गौरव दिवस पर एक जून को अगले वर्ष से रहेगा अवकाश - मुख्यमंत्री श्री चौहान

1 Jun 2023
भोपाल।भोपाल के इतिहास पर केंद्रित शोध संस्थान स्थापित होगा
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया सफाई मित्रों का सम्मान
भोपाल गेट पर फहराया तिरंगा और शहीदों को नमन किया

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अगले वर्ष से भोपाल गौरव दिवस पर एक जून को भोपाल में अवकाश रहेगा। आने वाली पीढ़ी भोपाल के इतिहास से रू-ब-रू हो सके, इस उद्देश्य से भोपाल के इतिहास पर केंद्रित शोध संस्थान की स्थापना की जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भोपाल गौरव दिवस पर भोपाल गेट पहुँच कर सफाई मित्रों का सम्मान किया। उन्होंने भोपाल विलीनीकरण दिवस की शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि असंख्य लोगों के बलिदान और वीर सपूतों के संघर्ष के परिणामस्वरूप देश की स्वतंत्रता के 2 साल बाद एक जून 1949 को भोपाल, भारत का अभिन्न अंग बना। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने रंग-गुलाल, पुष्प-वर्षा और आतिशबाजी के बीच राष्ट्रीय ध्वज फहराया। उन्होंने जन-गण-मन गान के बाद भारत माता को पुष्पांजलि अर्पित की और मशाल जला कर विलीनीकरण के शहीदों का स्मरण किया। शहीदों के चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि भी दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भोपाल विलीनीकरण आंदोलन पर केंद्रित चित्र प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नई पीढ़ी को यह नहीं मालूम कि 15 अगस्त 1947 को भारत के स्वतंत्र होने के साथ भोपाल स्वतंत्र नहीं हुआ था। नवाब ने भोपाल के भारत में विलय से इंकार कर दिया था। इस स्थिति में भोपाल में विलीनीकरण आंदोलन आरंभ हुआ। उन्होंने श्रद्धेय उद्धव दास मेहता, बालकृष्ण गुप्ता और डॉ. शंकर दयाल शर्मा के संघर्ष का स्मरण करते हुए बोरास के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लगभग 100 सफाई मित्रों का शॉल पहना कर सम्मान किया। जानकारी दी गई कि भोपाल के सभी वार्डों में स्वच्छता कर्मियों का सम्मान किया जा रहा है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा एक जून को भोपाल का गौरव दिवस मनाने की पहल से आने वाली पीढ़ी भोपाल के इतिहास से अवगत होगी। महापौर श्रीमती मालती राय ने भोपालवासियों को गौरव दिवस की शुभकामनाएँ दी। पूर्व महापौर श्री आलोक शर्मा उपस्थित थे।



स्वच्छता से नगर की प्रतिष्ठा और गौरव बढ़ता है - मुख्यमंत्री श्री चौहान

1 Jun 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल गौरव दिवस पर नगर वासियों को स्वच्छता का संदेश देते हुए ईदगाह हिल्स की हेमू कालानी कॉलोनी प्रभु नगर पहुँच कर घरों से सूखे और गीले कचरे के डब्बे कचरा वाहन में डाले तथा रहवासियों से स्वच्छता में सक्रिय सहयोग की अपील की।

मुख्यमंत्री श्री चौहान का रहवासियों ने आरती उतार कर स्वागत किया तथा मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना लागू करने के लिए उनका आभार माना। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने क्षेत्र के निवासियों से स्वच्छता के संबंध में बातचीत करते हुए कहा कि स्वस्थ और सुखी जीवन के लिए स्वच्छता आवश्यक है। स्वच्छता से वार्ड, मोहल्ले और नगर की प्रतिष्ठा और गौरव बढ़ता है। स्वच्छता के लिए सरकार और समाज का परस्पर सहयोग आवश्यक है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग, महापौर श्रीमती मालती राय और पूर्व महापौर श्री आलोक शर्मा भी स्वच्छता अभियान में शामिल हुए।



मंत्रालय में हुआ वंदे-मातरम गायन

1 Jun 2023
भोपाल।राष्ट्र-गीत वंदे-मातरम एवं राष्ट्र-गान "जन-गण-मन" का सामूहिक गायन आज मंत्रालय स्थित सरदार वल्लभ भाई पटेल पार्क में हुआ। पुलिस बैंड ने मधुर धुनें प्रस्तुत की। मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव श्री विनोद कुमार, श्री अशोक वर्णवाल एवं मंत्रालय सहित सतपुड़ा एवं विंध्याचल भवन के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।








भोपाल को क्लीन और ग्रीन बनाएँ, कोई एक नेक काम अवश्य अपनाएँ : मुख्यमंत्री श्री चौहान

31 May 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री चौहान ने रवाना की भोपाल गौरव दौड़
भोपाल के गौरव दिवस पर युवाओं में दिखा उत्साह
विलीनीकरण आंदोलन के शहीदों को किया गया नमन

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज प्रात: भोज ताल वीआईपी रोड पर राजा भोज की प्रतिमा से भोपाल गौरव दौड़ झंडी दिखाकर रवाना की। इस दौड़ में भोपाल के नागरिक विशेषकर युवाओं द्वारा उत्साह से हिस्सा लिया गया। राजा भोज प्रतिमा से भोपाल बोट क्लब तक लगभग 3 किलोमीटर भोपाल गौरव दौड़ में असंख्य नागरिक शामिल हुए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नागरिकों को भोपाल गौरव दिवस की बधाई देते हुए कहा कि भोपाल देश के स्वतंत्र होने के समय 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्र नहीं हुआ। तब तत्कालीन नवाब ने भारतीय संघ में भोपाल रियासत के विलय से इनकार कर दिया था। इसके लिए नागरिकों को संघर्ष करना पड़ा और विलीनीकरण आंदोलन के फलस्वरुप अनेक सेनानियों के बलिदान के पश्चात ही भोपाल एक जून 1949 को स्वतंत्र हुआ। इस आंदोलन में रायसेन जिले के बोरास में युवा शहीद भी हुए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विलीनीकरण आंदोलन के शहीद सेनानियों को श्रद्धा-सुमन अर्पित किए। चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास सारंग, भोपाल की महापौर श्रीमती मालती राय, पूर्व महापौर श्री आलोक शर्मा, कमिश्नर भोपाल संभाग श्री माल सिंह, कलेक्टर भोपाल श्री आशीष सिंह, जन-प्रतिनिधि और बड़ी संख्या में युवा उपस्थित थे।

भोपाल को बनाएँ नम्बर वन

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज भोपाल के हजारों नौजवान और नागरिक गौरव दौड़ में गौरव के भाव से और उमंग से हिस्सा ले रहे हैं। भोपाल को स्वच्छतम राजधानी का दर्जा मिल चुका है। अब भोपाल को भारत का स्वच्छतम शहर बनाना है। क्लीन शहर और ग्रीन शहर हो हमारा भोपाल, यह हम सभी का संकल्प होना चाहिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वे प्रतिदिन तीन पौधे लगाते हैं। पर्यावरण संरक्षण में नागरिकों विशेषकर युवाओं की भागीदारी बढ़ रही है। भोपाल शहर राजा भोज का शहर है, रानी कमलापति का शहर है और हम सभी का शहर है। सभी मिलकर भोपाल को ग्रीन और क्लीन बनाएं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गौरव दिवस पर इस गौरव दौड़ में युवाओं का असीम उत्साह देखने को मिल रहा है। ऐसा प्रतीत होता है मानो पूरा भोपाल दौड़ रहा हो। हम सभी मिलकर भोपाल को आगे बढ़ाने का संकल्प लें। इसके लिए प्रत्येक नागरिक को कुछ नेक काम अपनाने होंगे। कम से कम एक कार्य करने का दायित्व जरूर लें। इनमें स्वच्छता, पौधा लगाना, बेटियों को पढ़ाना, ऊर्जा का संरक्षण, बिजली की बचत आदि शामिल हैं। सरकार के साथ समाज भी विकास के कामों में भागीदार बने। आज के कार्यक्रम में विलीनीकरण आंदोलन के कर्मठ देशभक्त श्री भाई रतन कुमार के परिवार से डॉ. आलोक गुप्ता और श्रीमती अनुराधा गुप्ता भी भोपाल गौरव दौड़ रवाना होने के अवसर पर उपस्थित थे। प्रारंभ में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अन्य जन-प्रतिनिधियों के साथ गुब्बारे छोड़कर भोपाल गौरव दौड़ को रवाना किया और स्वयं भी दौड़ का हिस्सा बने। कार्यक्रम के संचालन का जिम्मा भोपाल के लोकप्रिय आर.जे. की एक टीम ने संभाला। भोपाल के नए और पुराने हिस्से दोनों जगह से नागरिकों की व्यापक भागीदारी भोपाल गौरव दौड़ में देखी गई।



नेपाल के प्रधानमंत्री श्री पुष्प कमल प्रचंड दो दिवसीय प्रवास पर मध्यप्रदेश आएंगे

30 May 2023
भोपाल।नेपाल के प्रधानमंत्री श्री पुष्प कमल दहल 'प्रचंड' आगामी 2 और 3 जून को मध्यप्रदेश आ रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान उनकी अगवानी करेंगे। श्री प्रचंड इंदौर में 2 जून को पूर्वान्ह पहुँचने के बाद उज्जैन जाएंगे जहाँ भगवान श्रीमहाकाल मंदिर जाकर दर्शन करेंगे। इसी दिन श्री प्रचंड इंदौर में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन संयंत्र के कार्यों का जायजा लेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान नेपाल के प्रधानमंत्री के सम्मान में रात्रि भोज भी देंगे। श्री प्रचंड 3 जून को इंदौर में टीसीएस एवं इन्फोसिस विशेष आर्थिक क्षेत्र का दौरा करेंगे और इसी दिन अपरान्ह में नई दिल्ली के लिए प्रस्थान करेंगे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज इंदौर और उज्जैन कलेक्टर को मंत्रालय से वीसी द्वारा नेपाल के प्रधानमंत्री की गरिमामय अगवानी, स्वागत और उनके सम्मान में होने वाली सांस्कृतिक प्रस्तुति के संबंध में निर्देश दिए।



अजा एवं अजजा वर्ग के उद्यमियों को स्टार्ट-अप के लिये 18 से 72 लाख रूपये की सहायता मिलेगी

30 May 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंत्रि-परिषद द्वारा म.प्र स्टार्ट-अप नीति एवं कार्यान्वयन योजना-2022 में संशोधन कर महिलाओं के समान अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति वर्ग के उद्यमियों को भी सुविधाएँ प्रदान करने का निर्णय लिया गया। इनमें अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति वर्ग के उद्यमियों द्वारा स्थापित स्टार्ट-अप को प्राप्त फंडिंग/निवेश पर कुल 18 प्रतिशत अधिकतम रूपये 18 लाख की सहायता एवं चार चरण में अधिकतम रूपये 72 लाख की सीमा में देय होगी। अनुसूचित जाति/जनजाति वर्ग के उद्यमी द्वारा प्रवर्तित स्टार्ट-अप में उनकी भागीदारी 51 प्रतिशत होनी चाहिए।

दमोह में नवीन चिकित्सा महाविद्यालय के लिए 266 करोड़ 71 लाख रूपये की स्वीकृति

मंत्रि-परिषद ने दमोह में नवीन चिकित्सा महाविद्यालय स्थापित किये जाने के लिए परियोजना परीक्षण समिति की अनुशंसा अनुसार निर्माण कार्यों के लिये 266 करोड़ 71 लाख रूपये की स्वीकृति प्रदान की। दमोह, टीकमगढ़ एवं पन्ना क्षेत्र की भौगोलिक स्थिति के अनुसार दमोह के मध्य में स्थित होने तथा इन तीनों क्षेत्रों से अन्य चिकित्सा महाविद्यालयों की दूरी लगभग 100 कि.मी. से अधिक होने के कारण इस निर्णय से दमोह तथा समीपस्थ जिलों की जनता को तृतीयक स्तर की चिकित्सकीय सुविधाएँ उपलब्ध हो सकेंगी। साथ ही प्रदेश के छात्रों के लिये चिकित्सा क्षेत्र की 100 एम.बी.बी.एस. सीट्स की भी वृद्धि हो सकेगी।

वन्य-प्राणियों द्वारा की जाने वाली जनहानि क्षतिपूर्ति अब 4 लाख से बढ़ाकर 8 लाख रूपये करने का अनुमोदन

मंत्रि-परिषद ने वन्य-प्राणियों द्वारा की जाने वाली जनहानि, जनघायल करने एवं पशुहानि पर दी जाने वाली क्षतिपूर्ति राशि 4 लाख रुपये से बढ़ाकर 8 लाख रुपये करने के वन विभाग के आदेश का कार्योत्तर अनुमोदन किया।

साहित्यकारों एवं कलाकारों को 25 हजार से 1 लाख रूपये मिलेगी सहायता राशि

मंत्रि-परिषद ने प्रदेश के जरूरतमंद साहित्यकारों एवं कलाकारों की लम्बी तथा गंभीर बीमारी, दुर्घटना, दैवीय विपत्ति एवं मृत्यु हो जाने की स्थिति में आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने के लिए संस्कृति विभाग में संचालित योजना कलाकार कल्याण कोष को संशोधित करते हुए, नवीन "मध्यप्रदेश कलाकार कल्याण कोष नियम-2023" जारी करने की स्वीकृति प्रदान की। पहले की योजना में प्रदेश के जरूरतमंद साहित्यकारों एवं कलाकारों को गंभीर बीमारी, दुर्घटना, दैवीय विपत्ति एवं मृत्यु हो जाने की स्थिति में 500 से 5 हजार रूपये तक की सहायता देने का ही प्रावधान था। नवीन योजना में गठित सक्षम समिति की सिफारिश पर मंजूर की जाने वाली राशि न्यूनतम 25 हजार से लेकर अधिकतम 1 लाख रूपये तक की जाना है, जिसमें कलाकार/साहित्यकार की मृत्यु की स्थिति में उनके उत्तराधिकारी को एकमुश्त अधिकतम एक लाख तथा चिकित्सा उपचार के लिए अधिकतम 50 हजार रूपये दिए जा सकेंगे। शारीरिक रूप से दिव्यांग कलाकार / साहित्यकार को दिव्यांगता के उपचार के लिए अधिकतम एक लाख रूपये दिये जा सकेंगे। परिवार के सदस्यों में साहित्यकार / कलाकार की आश्रित पत्नी/पति, आश्रित माता-पिता, आश्रित नाबालिग भाई-बहन, आश्रित नाबालिग संतान एवं आश्रित विधवा पुत्री के साथ आश्रित दिव्यांग भाई- बहन को भी आश्रितों में सम्मिलित किया जायेगा।

ताप एवं जल विद्युत गृहों में नवीनीकरण एवं आधुनिकीकरण के लिये 85 करोड़ 35 लाख का अनुमोदन

वर्ष 2012 में राष्ट्रीय ग्रिड में खराबी आने के बाद केन्द्र सरकार ने ट्रांसमिशन प्रणाली के सुदृढ़ीकरण के लिए स्थापित पॉवर सिस्टम डेवलपमेंट फण्ड से म.प्र. पावर जनरेटिंग कंपनी लिमिटेड के विदयुत गृहों में स्थित 400/220 के. व्ही. सब स्टेशनों में विभिन्न कार्य जिनकी कुल लागत 85 करोड़ 35 लाख रूपये है, का अनुमोदन मंत्रि-परिषद द्वारा दिया गया। इस कार्य के लिए राज्य मंत्रि-परिषद ने शासन द्वारा 6 करोड़ 54 लाख रूपये अंशपूँजी के रूप में, पॉवर सिस्टम डेवलपमेंट फण्ड से 58 करोड़ 86 लाख रूपये अनुदान के रूप में तथा म.प्र. पॉवर जनरेटिंग कंपनी द्वारा 19 करोड़ 95 लाख रूपये उपलब्ध कराए जाने का अनुमोदन किया।

अन्य निर्णय

मंत्रि-परिषद ने नर्मदा घाटी विकास विभाग के 6 हजार 474 अस्थाई पदों की 31 मार्च 2026 तक के लिए निरंतरता का अनुमोदन करते हुए नर्मदा घाटी विकास विभाग को प्राधिकृत किया।



दिव्यांग खिलाड़ियों को देंगे अधिक से अधिक सुविधाएँ : मुख्यमंत्री श्री चौहान

30 May 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश के दिव्यांग खिलाड़ियों को अधिक से अधिक सुविधाएँ दी जाएंगी। इन्हें श्रेष्ठ प्रदर्शन पर प्रोत्साहन राशि प्रदान करने के साथ ही शासकीय सेवाओं में प्राथमिकता, खेल क्षेत्र में आवास सुविधा के साथ प्रशिक्षण और अन्य प्रोत्साहन दिए जाएंगे। मुख्यमंत्री निवास कार्यालय में 18 जुलाई को दिव्यांग पंचायत के लिए भी तैयारियाँ प्रारंभ की जा रही हैं। इस पंचायत में प्रदेश के लगभग ढाई हजार दिव्यांग शामिल होंगे, जिनमें खिलाड़ी एवं अन्य क्षेत्रों की दिव्यांग प्रतिभाएँ शामिल होंगी। विशेष रूप से मानसिक रूप से दिव्यांग बच्चों की भागीदारी का प्रयास किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान से आज स्पेशल ओलंपिक भारत, नई दिल्ली की चेयरपर्सन श्रीमती मल्लिका नड्डा और क्षेत्रीय निदेशक श्री दीपांकर बनर्जी और अन्य पदाधिकारियों ने भेंट की। श्रीमती नड्डा ने जबलपुर एवं प्रदेश के अन्य स्थानों के दिव्यांग खिलाड़ियों के प्रोत्साहन केलिए गत 3 दशक से किए जा रहे प्रयासों की जानकारी भी दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दिव्यांग कल्याण के इन प्रयासों की सराहना की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने उनसे भेंट करने आए दिव्यांग खिलाड़ियों को श्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए शुभकामनाएँ दी और अपने हाथ से मिठाई खिलाई। जर्मनी के बर्लिन में 17 से 24 जून तक हो रही अंतर्राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिता (स्पेशल ओलंपिक) में करीब 180 देश के लगभग 7 हजार मानसिक दिव्यांग खिलाड़ी शामिल हो रहे हैं। स्पेशल ओलंपिक में 16 खेलों में भाग लेने के लिए भारत से 198 एथलीट और 57 कोच जाएंगे। मध्य प्रदेश से 3 महिला खिलाड़ी और 4 महिला कोच इस स्पेशल ओलंपिक के लिए 6 जून को भोपाल से रवाना होंगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान से भेंट के अवसर पर कृषि मंत्री श्री कमल पटेल और सामाजिक न्याय मंत्री श्री प्रेम सिंह पटेल भी उपस्थित थे। प्रारंभ में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मुख्यमंत्री निवास आगमन पर श्रीमती नड्डा एवं श्री बनर्जी का स्वागत किया।


प्रदेश के किसी भी नगर में स्ट्रीट वेंडर्स से वसूली नहीं होगी : मुख्यमंत्री श्री चौहान

29 May 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में कहीं भी किसी भी नगर में स्ट्रीट वेंडर्स से रोज शुल्क वसूली नहीं होगी, यह तत्काल बंद की जाएगी। स्ट्रीट वेंडर्स के रजिस्ट्रेशन के लिए नाममात्र का शुल्क लिया जाएगा। आपकी जिंदगी को आसान बनाने के लिए कोई कमी नहीं छोड़ी जाएगी। हाथठेला लगाने के लिए व्यवस्थित और उपयुक्त स्थान तैयार किए जाएंगे। गरीबों की जिंदगी में खुशियाँ लाने का प्रयास हमेशा जारी रहेगा। हाथ ठेला रोजी-रोटी का साधन है। आज मैं तत्काल प्रभाव से निर्देश दे रहा हूँ कि कोई भी हाथ ठेला जब्त नहीं होगा। इसके लिए नगरीय प्रशासन विभाग द्वारा नियम बना दिए जाएँ। जिनके पास हाथ ठेला नहीं है उनको सब्सिडी पर हाथ ठेला देने की योजना बनाई जाएगी। इसके लिए सरकार 5 हजार रूपए सब्सिडी देगी। गरीबों की तकलीफों को दूर करना शिवराज का धर्म है। मुख्यमंत्री श्री चौहान, मुख्यमंत्री निवास पर नगरीय क्षेत्र के हाथ ठेला चालक, फेरी एवं रेहड़ी वालों की महापंचायत को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि स्ट्रीट वेंडर्स मेहनतकश भाई-बहन हैं। अपना खून-पसीना एक कर रोजी-रोटी कमाते हैं। आप श्रम साधक हैं, आपके बिना दुनिया नहीं चल सकती है। आप घर-घर पहुँच कर लोगों को सामान की बिक्री करते हैं। जरूरत की हर छोटी-बड़ी चीज आसानी से लोगों तक पहुँचाते हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गाँव से शहर में आने वाले गरीबों के रहने की व्यवस्था की जाएगी। माफिया से छुड़ाई गई 23 हजार एकड़ जमीन पर गरीबों को पट्टा दिया जाएगा। जनता की तकलीफों को दूर करना सरकार का धर्म है। मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना में 1000 रूपए हर महीना बहनों के खाते में डाले जायेंगे। संबल योजना का लाभ मिलता रहेगा। इस योजना में महिलाओं के पोषण, बच्चों की पढ़ाई, इलाज, शादी, दुर्घटना में मृत्यु पर सहायता की व्यवस्था की गई है। सभी पात्रों को योजना में शामिल कर लाभान्वित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि बिना किसी भेदभाव के योजनाओं का लाभ मिलेगा। बारहवीं पास बच्चों को अलग-अलग संस्थाओं में काम सीखने के लिए भेजने की व्यवस्था की जाएगी। उनको काम सीखने के दौरान प्रतिमाह 8 हजार रूपए भी दिए जायेंगे। मैं आपके परिवार का सदस्य की तरह हूँ । इसलिए आपको योजनाओं का लाभ देने के लिए पंचायत बुलाई गई है। सामाजिक क्रांति लाकर स्ट्रीट विक्रेताओं की हालत को बदल दिया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कमजोर नहीं ताकतवर बनें। इसके लिये जरूरी है कि संगठित होकर काम करें। अपना एक संगठन बनायें। हाथठेला में कचरा पेटी रखें और सोलर बेट्री लगायें। शराब नहीं पियें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कन्या-पूजन और दीप प्रज्ज्वलित कर महापंचायत का शुभारंभ किया। उन्होंने पुष्प-वर्षा कर स्ट्रीट वेंडर्स का स्वागत किया। स्ट्रीट वेंडर्स की ओर से मुख्यमंत्री श्री चौहान को तुलसी का पौधा भेंट किया गया। लाड़ली बहना योजना की पात्र बहनों ने धन्यवाद-पत्र भेंट किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पीएम स्व-निधि योजना में प्रतीकस्वरूप हितग्राहियों को लाभान्वित किया। प्रदेश में योजना से कुल 51 हजार हितग्राही लाभान्वित किए गए हैं। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि हाथठेला-चालक और पथ-विक्रेताओं के लिये शहरों में हॉकर्स जोन बनाये जाना चाहिये। उन्हें शासन की सभी जन-कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिले। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोरोना काल में लगातार पथ-विक्रेताओं की चिंता की। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पीएम स्व-निधि योजना लागू कर कोरोना काल में पथ-विक्रेताओं को बहुत बड़ी राहत दी। इस योजना में मध्यप्रदेश देश में नम्बर-1 है। योजना में 9 लाख 50 हजार रजिस्ट्रेशन हुए हैं। इनमें से 7 लाख एक हजार पथ-विक्रेताओं को योजना का लाभ दिया जा रहा है। आज पूरे प्रदेश में 51 हजार पथ-विक्रेताओं को ऋण स्वीकृति-पत्र वितरित किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार स्टॉम्प शुल्क 2500 के स्थान पर मात्र 50 रूपये लिया जा रहा है। आयुक्त नगरीय प्रशासन एवं विकास श्री भरत यादव ने योजना के उद्देश्यों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि हितग्राहियों को 10 हजार, 20 हजार और 50 हजार रूपये का ब्याजमुक्त ऋण दिया जाता है। पथ-विक्रेताओं से उनकी समस्याओं की भी जानकारी ली जा रही है। नगरपालिक निगम भोपाल की महापौर श्रीमती मालती राय ने आभार माना। विधायक श्री रामेश्वर शर्मा और श्रीमती कृष्णा गौर, प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं आवास श्री नीरज मण्डलोई और बड़ी संख्या में पथ-विक्रेता और रेहड़ी वाले उपस्थित थे।


चीतों की सुरक्षा, संरक्षण, संवर्धन और प्रस्तावित चीता प्रोटेक्शन फोर्स के लिए केंद्र सरकार का मिलेगा हर संभव सहयोग : केंद्रीय मंत्री श्री यादव

30 May 2023
भोपाल।केंद्रीय वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री भूपेंद्र यादव ने कहा है कि चीता परियोजना अंतर्गत चीता संरक्षण एवं प्रबंधन में संलग्न अधिकारी और कर्मचारियों को नामीबिया/ दक्षिण अफ्रीका अध्ययन प्रवास के लिए चयनित कर भेजा जाएगा। केंद्र सरकार द्वारा चीतों की सुरक्षा, संरक्षण, संवर्धन और प्रस्तावित चीता प्रोटेक्शन फोर्स के लिए केंद्र सरकार की ओर से वित्तीय संसाधन सहित हर संभव सहयोग दिया जाएगा। केन्द्रीय मंत्री श्री यादव आज मुख्यमंत्री निवास स्थित समत्व भवन में मुख्यमंत्री श्री चौहान, वन मंत्री डॉ. विजय शाह और राज्य शासन के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक में चर्चा कर रहे थे। केन्द्रीय मंत्री श्री यादव ने कूनो राष्ट्रीय उद्यान के लिए अतिरिक्त वन रक्षक और वनपाल की व्यवस्था का आग्रह करते हुए कहा कि अधो-संरचना और मानव संसाधन दोनों आवश्यक हैं। परियोजना से संबंधित भ्रामक सूचनाएँ प्राय: सामने आती हैं। आमजन को भी प्रामाणिक जानकारी मिलना चाहिए। वर्तमान में कूनो राष्ट्रीय उद्यान में 7 चीते खुले वन क्षेत्र और 10 चीते अनुकूलन बाड़ों में रह रहे हैं। आगामी नवम्बर तक चीतों के लिए वैकल्पिक रहवास के तौर पर गांधी सागर अभयारण्य को भी तैयार किया जा रहा है। कूनो में भी अनुमानित क्षमता के मुकाबले अभी चीते कम हैं। चीतों की देखभाल करने वाला स्टॉफ भी परिश्रमी है। परियोजना निश्चित ही सफल होगी। मध्यप्रदेश सरकार गंभीरता से परियोजना के क्रियान्वयन के लिए कार्य कर रही है। परियोजना में फारेन एक्सपर्ट की सेवाएँ निरंतर मिल ही रही हैं। केन्द्रीय मंत्री ने बताया कि वे आगामी 6 जून को कूनो राष्ट्रीय उद्यान जाकर व्यवस्थाओं का जायजा लेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश चीता स्टेट है। यह प्रतिष्ठा की बात है। राज्य सरकार चीता परियोजना की सफलता के लिए प्रतिबद्ध है। प्रारंभ में ही चीता शावकों के जन्म के सर्वाइवल रेट की जानकारी दी गई थी। चीता परियोजना से जुड़ा सम्पूर्ण अमला, जज्बे के साथ कार्य कर रहा है। परियोजना की प्रगति संतोषजनक है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि चीतों के लिए वैकल्पिक रहवास के लिए गांधी सागर अभयारण्य में आवश्यक व्यवस्थाएँ युद्ध स्तर पर पूर्ण करवाएँ। बैठक में परियोजना से पर्यटन विकास की गतिविधियों पर भी चर्चा हुई। वन मंत्री डॉ. शाह ने चीता की मॉनिटरिंग में तैनात कर्मचारियों को सुरक्षा की दृष्टि से आधुनिक वाहन भी उपलब्ध करवाने का सुझाव दिया। केन्द्रीय वन महानिदेशक एवं विशेष सचिव श्री सी.पी. गोयल, मध्यप्रदेश के अपर मुख्य सचिव वन श्री जे.एन. कंसोटिया, राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण नई दिल्ली, के सदस्य सचिव डॉ. एस.पी. यादव, प्रमुख सचिव पर्यटन एवं संस्कृति श्री शिव शेखर शुक्ला, प्रधान मुख्य वन संरक्षक वन्य-प्राणी श्री जे.एस. चौहान, अपर सचिव वन विभाग श्री अशोक कुमार सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


मेगा जॉब फेयर एवं श्रमिक चौपाल में मुख्यमंत्री श्री चौहान करेंगे ऑफर लेटर और स्वीकृति-पत्र वितरित चौहान

28 May 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 29 मई को भोपाल में होने वाले मेगा जॉब फेयर एवं श्रमिक चौपाल में चयनित आवेदकों को ऑफर लेटर एवं योजनाओं के स्वीकृति-पत्र का वितरण करेंगे।

आईटीआई सभागार, गोविन्दपुरा में सुबह 11:30 बजे होने वाले कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि केन्द्रीय श्रम एवं रोजगार तथा पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री भूपेन्द्र यादव होंगे। प्रदेश की तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार तथा खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया और श्रम एवं खनिज संसाधन मंत्री श्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह भी उपस्थित रहेंगे। कार्यक्रम तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार तथा श्रम विभाग द्वारा किया जाएगा।



सलकनपुर देवीलोक के भूमि-पूजन में श्रद्धालुओं का आना परम सौभाग्य की बात: मुख्यमंत्री श्री चौहान

26 May 2023
भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सीहोर जिले के सलकनपुर में देवीलोक के भूमि-पूजन कार्यक्रम में आस-पास के जिलों के श्रद्धालुओं का आना परम सौभाग्य की बात है। सलकनपुर में अद्भुत देवीलोक का निर्माण होगा। आगामी 29 से 31 मई तक विजयासन माता धाम सलकनपुर में देवीलोक महोत्सव होने जा रहा है। देवीलोक के भूमि-पूजन का मुख्य कार्यक्रम 31 मई को होगा। इसके पहले 29 और 30 मई को विभिन्न सांस्कृतिक एवं धार्मिक गतिविधियाँ होंगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज निवास कार्यालय समत्व भवन में देवीलोक महोत्सव की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। सांसद विदिशा श्री रमाकांत भार्गव, पूर्व मंत्री श्री रामपाल सिंह, संभागायुक्त भोपाल श्री माल सिंह, कलेक्टर सीहोर श्री प्रवीण सिंह सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि महोत्सव का कार्यक्रम बेहतर, व्यवस्थित और भव्य हो। श्रद्धालुओं के लिए पेयजल, भोजन, वाहन और पंडाल आदि की व्यवस्थाएँ बेहतर हों। आस-पास के जिलों से आने वाले वाहनों के रजिस्ट्रेशन और पार्किंग की व्यवस्था कर ली जाये। देवीलोक महोत्सव का वृहद स्तर पर प्रचार-प्रसार भी किया जाये।


87 महिला उद्यमियों को मिला 4.60 लाख का 2 प्रतिशत ब्याज अनुदान

26 May 2023
भोपाल।मध्यप्रदेश महिला वित्त विकास निगम की अध्यक्ष श्रीमती अमिता चपरा द्वारा गुरूवार को मुख्यमंत्री उद्यम शक्ति योजना में SAMAST पोर्टल से 87 महिला उद्यमियों को 2 प्रतिशत ब्याज अनुदान के रूप में 4 लाख 60 हजार रूपये अंतरित किये गये। श्रीमती अमिता ने बताया कि अगस्त-2022 में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा प्रदेश में महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण के लिये मुख्यमंत्री नारी सम्मान कोष का गठन कर मुख्यमंत्री उद्यम शक्ति योजना के क्रियान्वयन का निर्णय लिया था। इसमें प्रदेश में ग्रामीण/शहरी आजीविका मिशन के तहत गठित महिला स्व-सहायता समूहों को आर्थिक गतिविधियों के लिये 2 प्रतिशत ब्याज अनुदान उपलब्ध कराये जाने का प्रावधान है। उन्होंने कहा कि इस योजना प्रदेश में महिला उद्यमिता को विकसित करने के साथ तकनीकी कौशल आधारित उद्योगों में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाते हुए राज्य की सकल घरेलू उत्पाद में वृद्धि करना है।


स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री श्री परमार ने घोषित किए

25 May 2023
भोपाल।स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) एवं सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री श्री इन्दर सिंह परमार ने माध्यमिक शिक्षा मंडल की कक्षा 10वीं एवं 12वीं बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम घोषित किए। राज्य मंत्री श्री परमार ने सभी उत्तीर्ण विद्यार्थियों, उनके शिक्षकों एवं अभिभावकों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि जो असफल हुए हैं, वे चिंता न करें। ऐसे विद्यार्थियों को "रुक जाना नहीं" योजनांतर्गत सफल होने के लिए एक और अवसर दिया जाएगा। राज्य मंत्री श्री परमार ने कहा कि अंकों के आधार पर जीवन का निर्धारण नहीं होता, सफलता एवं असफलता प्रयासों के मात्र पैमाने हैं। विद्यार्थी पुनः प्रयास और परिश्रम कर सफलता अर्जित कर सकते हैं।
प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरुण शमी, अध्यक्ष माध्यमिक शिक्षा मंडल श्रीमती वीरा राणा, उपाध्यक्ष डॉ. रमा मिश्रा, आयुक्त लोक शिक्षण श्रीमती अनुभा श्रीवास्तव, अधिकारी सहित प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया प्रतिनिधि उपस्थित थे।

हाई स्कूल परीक्षा परिणाम

सचिव माध्यमिक शिक्षा मंडल श्री श्रीकांत बनोठ ने बताया कि माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा हाई स्कूल सर्टिफिकेट परीक्षा में इस वर्ष 63.29% नियमित परीक्षार्थी और 17.11% स्वाध्यायी परीक्षार्थी उत्तीर्ण रहे हैं। वहीं इस परीक्षा में 60.26% नियमित छात्र एवं 66.47% नियमित छात्रायें सफल हुई हैं। उन्होंने बताया कि हाई स्कूल सर्टिफिकेट परीक्षा में इस वर्ष नियमित परीक्षार्थियों के रूप में 8 लाख 15 हजार 364 परीक्षार्थी तथा स्वाध्यायी परीक्षार्थियों के रूप में एक लाख 30 हजार 971 परीक्षार्थी शामिल हुए। परीक्षा में 104 नकल प्रकरण बने, जो विगत वर्षों में न्यूनतम हैं। आज 8 लाख 15 हजार 202 नियमित परीक्षार्थियों के परीक्षा परिणाम घोषित कर दिये गये। इनमें 3 लाख 39 हजार 441 परीक्षार्थी प्रथम श्रेणी, एक लाख 73 हजार 290 परीक्षार्थी द्वितीय श्रेणी एवं 3 हजार 224 परीक्षार्थी तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए। इस प्रकार कुल 5 लाख 15 हजार 955 परीक्षार्थी परीक्षा में सफल हुये हैं, जिनका परीक्षाफल 63.29% रहा है। 82 हजार 335 परीक्षार्थियों ने पूरक की पात्रता प्राप्त की है। हाई स्कूल सर्टिफिकेट वर्ष 2023 की पूरक परीक्षा 18 जुलाई से 27 जुलाई 2023 तक होगी। इस वर्ष भी पूर्व वर्ष अनुसार हाई स्कूल परीक्षा में 2 विषय में अनुत्तीर्ण परीक्षार्थियों को पूरक की पात्रता दी गई है।

हायर सेकंडरी परीक्षा परिणाम

श्री बनोठ ने बताया कि हायर सेकण्डरी स्कूल सर्टिफिकेट परीक्षा में इस वर्ष नियमित परीक्षार्थियों के रूप में 7 लाख 27 हजार 44 परीक्षार्थी तथा स्वाध्यायी परीक्षार्थियों के रूप में एक लाख 15 हजार 567 परीक्षार्थी शामिल हुये। हायर सेकण्डरी परीक्षा में इस वर्ष 55.28% नियमित परीक्षार्थी तथा 18.15% स्वाध्यायी परीक्षार्थी उत्तीर्ण रहे हैं। 52% नियमित छात्र तथा 58.75% नियमित छात्रायें परीक्षा में सफल हुई हैं। परीक्षा में 137 नकल प्रकरण बने, जो विगत वर्षों में न्यूनतम है। आज 7 लाख 26 हजार 39 नियमित परीक्षार्थियों के परीक्षा परिणाम घोषित कर दिये गये। इनमें 2 लाख 79 हजार 257 परीक्षार्थी प्रथम श्रेणी, एक लाख 21 हजार 507 परीक्षार्थी द्वितीय श्रेणी एवं 602 परीक्षार्थी तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए। इस प्रकार कुल 4 लाख एक हजार 366 परीक्षार्थी परीक्षा में सफल हुये है, जिनका परीक्षाफल 55.28% रहा है। एक लाख 12 हजार 872 नियमित परीक्षार्थियों ने पूरक की पात्रता प्राप्त की है। हायर सेकण्डरी स्कूल सर्टिफिकेट वर्ष 2023 की पूरक परीक्षा 17 जुलाई 2023 को होगी। इस वर्ष हायर सेकंडरी परीक्षा में एक विषय में अनुत्तीर्ण परीक्षार्थियों को पूरक की पात्रता दी गई है।



भारत टॉकीज रेलवे ओवर ब्रिज पर फिर से शुरू हुआ ट्रैफिक

25 May 2023
भोपाल। चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग ने गुरूवार सुबह 8 बजे भारत टॉकीज आरओबी पर ट्रॉयल रन कर ट्रैफिक को फिर से बहाल किया। इससे पहले मंत्री श्री सारंग ने स्वयं जीप चलाकर ब्रिज के पूर्ण हो चुके मरम्मत कार्य का निरीक्षण किया। उन्होंने संतुष्टि व्यक्त करते हुए निश्चित समयावधि में कार्य पूर्ण करने के लिये अधिकारियों की सराहना भी की। महापौर श्रीमती मालती राय, स्थानीय जन-प्रतिनिधि, लोक निर्माण विभाग के अधिकारी सहित रहवासी भी उपस्थित थे।

एक हफ्ते ट्रॉयल के बाद किया जायेगा डामरीकरण

मंत्री श्री सारंग ने कहा कि भोपाल के बड़े क्षेत्र को भोपाल स्टेशन से जोड़ने वाले भारत टॉकीज आरओबी को पुन: ट्रैफिक के लिए खोल दिया गया है। अभी ब्रिज के ऊपर मास्टिक एस्फाल्ट की लेयर नहीं डाली गई है। एक सप्ताह तक ट्रॉयल के बाद यह लेयर डाली जाएगी, यात्रियों के आवागमन के लिये ट्रैफिक को पुनः शुरू कर दिया गया है।

मरम्मत कार्य से करीब 25 वर्ष बढ़ गई आरओबी की आयु

मंत्री श्री सारंग ने बताया कि वर्ष 1972 में निर्मित भारत टॉकीज आरओबी के बेयरिंग और ज्वाइंट यातायात के बढ़ते दबाव और पुराने होने के कारण पूरी तरह खराब हो गये थे। इससे किसी बड़ी दुर्घटना के होने की आशंका थी। इसके लिये ब्रिज के 360 बेयरिंग और 15 एक्सपोनशन ज्वाइंट बदले गए हैं। मरम्मत से ब्रिज की आयु करीब 25 वर्ष और बढ़ गई है।

मंत्री श्री सारंग ने स्वयं जीप चला कर किया ट्रॉयल रन

मंत्री श्री सारंग ने करीब आधे घंटे तक स्वयं जीप चला कर ब्रिज पर ट्रॉयल रन किया। वे भोपाल स्टेशन प्लेटफॉर्म क्रमांक-1 के समीप बजरिया पुलिस चौकी से लेकर ब्रिज की दूसरी ओर संगम तिराहे तक जीप चला कर पहुँचे। जीप के साथ अन्य दो पहिया एवं चार पहिया वाहन भी चल रहे थे।

25 मई तक मरम्मत का कार्य पूर्ण करने के दिये थे निर्देश

मंत्री श्री सारंग ने विगत 8 मई को निरीक्षण के दौरान ब्रिज के मरम्मत कार्य में देरी को लेकर नाराजगी व्यक्त करते हुए 15 दिन के भीतर 25 मई तक कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिये थे। लोक निर्माण विभाग द्वारा कार्य में गति लाते हुए मंत्री श्री सारंग द्वारा निश्चित की गई समयावधि के भीतर ही कार्य पूर्ण किया गया। उल्लेखनीय है कि ब्रिज के मरम्मत कार्य से यात्रियों को लगभग 6 कि.मी. लंबा टर्न लेकर जाना पड़ रहा था।



संजीवनी क्लीनिक इलाज में मददगार रहेंगे : कृषि मंत्री श्री पटेल

25 May 2023
भोपाल।किसान-कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल ने हरदा में मुख्यमंत्री संजीवनी क्लीनिक के भवन और विभिन्न सड़कों के निर्माण कार्यों का भूमि-पूजन किया। उन्होंने कहा कि हरदा में शहर के मध्य जिला चिकित्सालय होने एवं शहर के चारों दिशाओं में संजीवनी क्लीनिक के बन जाने से आमजन को इलाज में मदद मिलेगी। हरदा के वार्ड नंबर 29 में 25 लाख की लागत से संजीवनी क्लीनिक तथा 2 करोड़ 35 लाख 68 हजार रूपये की लागत से लगभग 4 किलोमीटर सीमेंट-कांक्रीट सड़कों का निर्माण होगा। मंत्री श्री पटेल ने कहा कि जिला चिकित्सालय हरदा में इलाज की बेहतर सुविधा सरकार द्वारा की गई है। उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित किया कि मरीजों को अनावश्यक रूप से दूसरे शहरों में रेफर नहीं किया जाये। जिला चिकित्सालय में ही बेहतर इलाज मुहैया कराया जाये। मंत्री श्री पटेल ने कहा कि मुख्यमंत्री संजीवनी क्लीनिक के बन जाने से शहर के चारों कोनों में सामान्य उपचार की सुविधा मिलने लगेगी। आम व्यक्ति को अनावश्यक रूप से जिला चिकित्सालय तक आने की आवश्यकता नहीं होगी। मंत्री श्री पटेल ने बताया कि सरकार ने गरीब कल्याण के लिये जन-हितैषी निर्णय लेते हुए अवैध कालोनियों को वैध करने का अभूतपूर्व निर्णय लिया है। सरकार ने मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना में एक करोड़ से अधिक महिलाओं को लाभांवित करने के लिये चयन किया है, जिसमें हरदा की 90 हजार से अधिक बहनें शामिल हैं। सरकार ने सीखो कमाओ योजना को प्रारंभ कर युवाओं के लिये रोजगार के बेहतर अवसर सृजित करने का महत्वपूर्ण कार्य किया है। इसमें युवाओं को ट्रेनिंग के दौरान ही 10 हजार रूपये तक का स्टायपेंड प्राप्त होगा।

मौली नेमा को दी शुभकामनाएँ

मंत्री श्री पटेल ने उनके प्रभार के जिले छिंदवाड़ा की कक्षा 12वीं के कला संकाय की छात्रा मौली नेमा को राज्य में अव्वल आने पर बधाई और शुभकामनाएँ दी। उन्होंने होनहार बिटिया के परिजनों और शिक्षकों को भी बधाई दी।



मृतकों के परिजन को 10-10 लाख रूपये और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी : मुख्यमंत्री श्री चौहान

24 May 2023
भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने उमरिया जिले के घंघरी स्थित नेशनल हाई-वे ओवर ब्रिज के पास बस दुर्घटना में मृत व्यक्तियों के परिजन को 10-10 लाख रूपये, गंभीर रूप से घायलों को 50-50 हजार रूपये और सामान्य रूप से घायल व्यक्तियों को 10-10 हजार रूपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि मृतकों के परिवार के एक-एक सदस्य को शासकीय सेवा में भी लिया जायेगा। घायलों को बेहतर से बेहतर उपचार की सुविधा मुहैया कराई जायेगी। राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल और मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज उमरिया प्रवास के दौरान बस दुर्घटना की सूचना मिलते ही जिला चिकित्सालय पहुँच कर घायल एवं मृतक के परिजन से मुलाकात की और ढांढस बंधाया। उन्होंने घायलों से उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली और मौके पर उपस्थित अधिकारियों एवं चिकित्सकों को बेहतर उपचार मुहैया कराने के निर्देश दिये। जनजातीय कार्य मंत्री सुश्री मीना सिंह एवं सांसद शहडोल श्रीमती हिमाद्री सिंह ने भी पीड़ित परिजन को सांत्वना दी।


नव-गठित निवाड़ी जिले के लिये पदों के सृजन की मंजूरी

23 May 2023
भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज मंत्रालय में मंत्रि-परिषद की बैठक में नव-गठित निवाड़ी जिले के लिये विभिन्न संवर्गों के कुल 12 पदों में से 9 पदों को जिला टीकमगढ़ से रिडिप्लायमेंट से उपलब्ध कराने तथा 3 नवीन पदों के सृजन के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया।

संविदा नियुक्ति नियम-2017 के नियम में संशोधन की स्वीकृति

मंत्रि-परिषद ने मध्यप्रदेश सिविल पदों पर संविदा नियुक्ति नियम, 2017 के नियम 11 (3) के बाद परंतुक स्थापित करने का निर्णय लिया। संशोधन के अनुसार "परन्तु यह कि राज्य शासन विशिष्ट प्रकरण में उपरोक्तानुसार उल्लेखित एक माह की पूर्व सूचना या इसके एवज में एक माह का वेतन देने की शर्त को शिथिल कर सकेगा।" उल्लेखनीय है कि सिविल पदों पर संविदा नियुक्ति संबंधी नियम-2017 के नियम 11(3) के प्रावधान अनुसार संविदा नियुक्ति के दौरान दोनों पक्षों में से किसी एक पक्ष द्वारा एक माह पूर्व की सूचना अथवा एक माह का वेतन जमा कर संविदा नियुक्ति समाप्त किए जाने का प्रावधान था।

पुनर्वास आयुक्त के पद में 30 जून 2027 तक की वृद्धि

मंत्रि-परिषद ने पुनर्वास आयुक्त के 1 अस्थाई पद की समय अवधि 1 जुलाई 2022 से 30 जून 2027 तक बढ़ाने का निर्णय लिया है। साथ ही वित्तीय वर्ष 2023-24 से बी.सी.ओ. पुनर्वास आयुक्त कार्यालय में कार्यरत अधिकारी-कर्मचारियों को प्रमुख राजस्व आयुक्त राजस्व विभाग के बी.सी.ओ. 0709 में मर्ज किया जाएगा।

अन्य निर्णय

मंत्रि-परिषद ने राजभवन में जनजातीय प्रकोष्ठ का गठन किये जाने के संबंध में मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा 8 अप्रैल 2022 को जारी आदेश को अनुमोदित किया।



प्रदेश में दिसंबर 2022 तक की अवैध कालोनियां होंगी वैध, सीएम शिवराज ने की घोषणा

23 May 2023
भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज एक कार्यक्रम में प्रदेश के नगरीय क्षेत्र की अवैध कालोनियों में विकास कार्यों एवं भवन अनुज्ञा देने का शुभारंभ किया। मुख्‍यमंत्री निवास में हुए इस कार्यक्रम में सीएम शिवराज ने भोपाल की वैध घोषित कालोनियों के रहवासियों को मकानों के नक्शे भी वितरित किए। कार्यक्रम में सीएम शिवराज ने घोषणा की कि प्रदेश में दिसंबर 2022 तक की सारी कालोनियांं वैध की जाएंगी । दिसंबर 2016 से 2022 तक की अवैध कालोनियों को वैध करने एक और संशोधन ले आएंगे। उन्‍होंने कहा कि अगर अवैध कालोनी कटी तो अधिकारी भी जिम्मेदार होंगे। फिलहाल 2016 तक की छह हजार से ज्‍यादा कालोनियों को वैध किया जा रहा है। सीएम शिवराज ने यह भी घोषणा की कि खरीदी-विक्री के लिए अब विकास शुल्क नहीं लिया जाएगा। नियमित कालोनियों के विकास के लिए अलग से राशि उपलब्ध कराई जाएगी। बिजली, पानी जैसी अधोसंरचनाओं के कार्य किए जाएंगे। भवन अनुज्ञा, अनुमतियां मिलेगी और बैंक लोन की पात्रता भी मिलेगी। सभी कालोनियों में रहवासी संघ का गठन किया जाएगा, ताकि सरकार मदद कर सकें। स्वच्छता का ध्यान रखें। गलत नक्शे वाले मकानों को भी वैसे ही स्वीकार किया जाएगा। ऐसे मकान न तोड़े जाएंगे, न कार्रवाई होगी।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हर एक का सपना होता है जीवन में उसका अपना एक मकान हो, रोटी कपड़ा और मकान जीवन की आवश्यकता है। एक बात चलती थी अगर बच्चों के लिए मकान नहीं बनाया तो कुछ नहीं किया। शहरीकरण तेजी से हो रहा है। हर वर्ग का मकान बनाने का सपना होता है। मकान बनाने के लिए जिंदगी भर की कमाई खर्च कर देते हैं। बिल्डर गलती से प्लान खरीदने वाले या मकान बनाने वाले को समस्या क्यों हो। अवैध कालोनियां का जो कलंक माथे पर लगा था, उसे हम मिटाने आए हैं। स्वच्छता के क्षेत्र में मप्र को नंबर एक रखना है। सभी आवासीय संघ भी इसमें मदद करें। आथ ठेला पर रोजगार चलाने वाला गरीब मजबूर को बेरोजगार मत करो। गरीबों पर जुल्म नहीं होना चाहिए। मानवीय व्यवथा करें कि ताकि वह भी अपना रोजगार चला सके। आथ ठेला पर व्यापार करने वालों की भी पंचायत बुलाई जाएगी। गरीबों के भोजन की व्यवस्था भी की जाएगी। पांच रुपये में भोजन ऐसे गरीबों को उपलब्ध कराया जाएगा। दीनदयाल रसोई योजना का विस्तार किया जाएगा। सीएम शिवराज ने कहा कि यह कमल नाथ वाली सरकार नहीं है जो गरीबों के पेट पर लात मारे। यह भााजपा की सरकार है। 10 जून से लाड़ली बहनों के खाते में एक हजार रुपये आना शुरू हो जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने पात्र हितग्राहियों को भवन अनुज्ञा प्रमाण पत्र वितरित किए। सबसे पहले भोपाल के रहने वाले डॉ श्रीकांत अवस्थी सौभाग्य नगर को मुख्यमंत्री ने भवन अनुज्ञा प्रमाण पत्र दिया। इसके बाद गायत्री गृह निर्माण समिति के दिलीप सेठी ,आजाद नगर के गजेंद्र मालवीय, सावन नगर की बबीता वर्मा, गायत्री गृह निर्माण समिति के मंजूर खान ,गौतम नगर के सत्यनारायण भावसार ,नीलगिरी फेस टू की भावना तिवारी ,बालाजी रेजिडेंसी चौक से नगर की आरती कुशवाह ,नीलगिरी फेस टू के सुरेश कुमार अजवानी ,गायत्री गृह निर्माण समिति के गजेंद्र सोनी ,गायत्री बिहार के हर्षित शर्मा को मुख्यमंत्री ने भवन अनुज्ञा प्रमाण पत्र वितरित किए। इससे पहले नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि वर्षों से लोग अवैध कालोनियों में रहे रहे थे, उनके इससे कठिनाईयों का सामना करना पड़ता था। इसलिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इन कालोनियों को वैध करने का निर्णय लिया। मुख्यमंत्री ने सात हजार कालोनियों को वैध करने का काम किया है। प्रदेश के नगरीय विकास एवं आवास राज्यमंत्री ओपीएस भदौरिया ने कहा कि कांग्रेस ने अवैध कालोनियां बसाने का काम किया है, लेकिन भाजपा सरकार इन कालोनियों को वैध करने का काम कर रही है। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने 31 दिसंबर 2016 तक निर्मित अवैध कालोनियों को चिह्न‍ित कर उन्हें वैध करने की घोषणा की थी। नगरीय विकास एवं आवास विभाग द्वारा मध्य प्रदेश नगरपालिक नियम-2021 में संशोधन कर दिया है। इसके अंतर्गत छह हजार से अधिक अवैध कालोनियों को वैध करने की प्रक्रिया की गई है। इन कालोनियों के वैध होने से यहां के रहवासियों को बैंक से ऋण, मकान बनाने की अनुमति, मकान का नक्शा एवं अन्य शासकीय योजनाओं का लाभ मिल सकेगा।



मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पन्ना गौरव दिवस पर जुगल किशोर सरकार लोक बनाने की घोषणा की

22 May 2023
भोपाल।चारों मंदिर परिसर सम्मिलित कर बनेगा जुगल किशोर लोक धरमसागर तालाब में महाराजा छत्रसाल की प्रतिमा स्थापित होगी
मुख्यमंत्री द्वारा गौरव दिवस पर पन्ना के विकास के लिए 178 करोड़ 51 लाख रूपये के निर्माण कार्यों का भूमि-पूजन और लोकार्पण
मुख्यमंत्री द्वारा गौरव दिवस पर पन्ना के विकास के लिए 178 करोड़ 51 लाख रूपये के निर्माण कार्यों का भूमि-पूजन और लोकार्पण

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज बुन्देल केसरी महाराजा छत्रसाल की जयंती पर पन्ना गौरव दिवस के आयोजन में उज्जैन के महाकाल लोक की तर्ज पर पन्ना में जुगल किशोर सरकार लोक बनाए जाने की घोषणा की। पन्ना को पवित्र धार्मिक नगरी बताते हुए उन्होंने कहा कि जुगल किशोर सरकार लोक में चारों मंदिर परिसर सम्मिलित किए जाएंगे। जुगल किशोर लोक सुझाव और सलाह लेकर बनाया जाएगा। स्थानीय छत्रसाल स्टेडियम में हुए गौरव दिवस समारोह में केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर, मध्यप्रदेश के कृषि एवं किसान-कल्याण मंत्री श्री कमल पटेल, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती मीना राजे परमार, उपाध्यक्ष श्री संतोष यादव सहित जन-प्रतिनिधि और पार्षद उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लोगों को महाराजा छत्रसाल से प्रेरणा लेने और उनके आदर्शों का अनुसरण करने के उद्देश्य से धर्मसागर तालाब में उनकी प्रतिमा स्थापित करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पन्ना जिले के विकास के लिए 178 करोड़ 51 लाख रूपये के विभिन्न निर्माण कार्यों का भूमि-पूजन एवं लोकार्पण गौरव दिवस समारोह में किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जन-प्रतिनिधियों की माँग पर कहा कि जब 10 लाख तक की आबादी वाले शहरों/जिलों में मेडिकल कॉलेज खोले जाने का फैसला होगा, तब उसमें पन्ना को भी शामिल किया जाएगा। श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार पन्ना के विकास में कोई कसर शेष नहीं छोड़ेगी। उन्होंने बताया कि पन्ना को आज विकास की कई सौंगातें दी गई हैं। वर्ष 2018 में कृषि महाविद्यालय की मांग की गई थी, बाद में उसे तत्कालीन सरकार द्वारा अन्यत्र स्थानांतरित कर दिया गया था, जिसे अब पन्ना में पुनः वापिस लाया गया है। महाराजा छत्रसाल की गौरव गाथा का जिक्र करते हुए श्री चौहान ने कहा कि वह महान योद्धा थे जो कभी पराजित नहीं हुए। उनके राज्य की सीमाएँ विशाल थीं। पन्ना को अद्भुत शहर बताते हुए उन्होंने कहा कि यहां के त्यौहार, मेले, लोक कलाएं, व्यंजन, संस्कृति और सभ्यता विशिष्ट हैं। हीरे की चमक की तरह हमें पन्ना की पहचान यथावत बनाए रखना होगी। राज्य सरकार रोजगार और स्वरोजगार देने के साथ ही सभी विकास कार्य कर रही है। साथ ही लोगों का जीवन स्तर भी सुधार रही है। इसके लिए अनेक योजनाएँ चल रही हैं। मुख्यमंत्री ने कलेक्टर को निर्देश दिए कि जाँच के बाद जुगल किशोर मंदिर के कार्य में गड़बड़ी करने वालों को बख्शा नहीं जाए। समारोह में लाड़ली बहनों ने मुख्यमंत्री को 51 मीटर की चुनरी और एक बड़ी राखी भेंट की तथा उन्हें राखी भी बांधी। श्री चौहान ने नगर की अनेक प्रतिभाओं को सम्मानित भी किया। मंत्री श्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह ने मुख्यमंत्री का छत्रसाल जयंती पर सार्वजनिक अवकाश घोषित करने पर आभार माना तथा धरमसागर तालाब में महाराजा छत्रसाल की प्रतिमा स्थापित करने की माँग की। उन्होंने कहा कि महाराजा छत्रसाल का हृदय विशाल था। उन्होंने अनेक युद्ध किए पर कभी हारे नहीं। बुन्देलखण्ड को मुगलों से मुक्त कराया। सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि कृषि महाविद्यालय की स्थापना होने से अब कृषि के क्षेत्र में अनुसंधान हो सकेगा। रेलवे स्टेशन प्रारंभ होने से पन्ना के विकास के नये आयाम स्थापित होंगे। उन्होंने कहा कि हम सब मिल कर पन्ना का विकास करेंगे। श्री शर्मा ने भी जुगल किशोर लोक बनाए जाने का मुख्यमंत्री से अनुरोध किया। प्रारंभ में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कन्या-पूजन एवं महाराजा छत्रसाल के चित्र पर माल्यार्पण कर समारोह का शुभारंभ किया। श्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह ने मुख्यमंत्री और अन्य अतिथियों को साफा बांध एवं तलवार भेंट कर स्वागत किया। कार्यक्रम को नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती मीना पाण्डेय ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर प्रसिद्ध गायिका सुश्री कविता पौडवाल द्वारा सुमधुर गीतों की प्रस्तुति की गई।



मुख्यमंत्री श्री चौहान के प्रयासों से प्रदेश को मिली 2 नये एयरपोर्ट की सौगात

22 May 2023
भोपाल।महाराणा प्रताप के शौर्य और वीरता की कहानियाँ पाठ्यक्रम में शामिल होंगी महाराणा प्रताप कल्याण बोर्ड का गठन किया जाएगा
हल्दी घाटी की मिट्टी लेकर भोपाल आए महाराणा प्रताप के वंशज
मुख्यमंत्री श्री चौहान भारतीय संस्कृति को पुनर्जीवित कर रहे हैं : डॉ. लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ मुख्यमंत्री ने महाराणा प्रताप और छत्रसाल जयंती समारोह को किया संबोधित

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महाराणा प्रताप देश के शौर्य के प्रतीक हैं। भोपाल में वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप लोक का निर्माण किया जाएगा। यह उनके त्याग, तपस्या, संघर्ष और बलिदान को श्रद्धांजलि होगी। स्मारक में महाराणा प्रताप के जीवन और कार्यों को चित्रित किया जाएगा। साथ ही उनके सात सहयोगियों भामाशाह, पुंजाभील, चेतक और अन्य के योगदान को भी चित्रित कर दर्शाया जाएगा। महाराणा प्रताप द्वारा अपनी संस्कृति और स्वतंत्रता की रक्षा के लिए संघर्ष तथा जीवन मूल्यों पर अडिग रहने की उनकी क्षमता से आने वाली पीढ़ी अवगत हो सके और तदनुसार संस्कार ग्रहण कर सकें, इस उद्देश्य से महाराणा प्रताप लोक का निर्माण सार्थक होगा। प्रदेश में