विधान सभा Slideshow Image Script
फोटो गैलरी
aa aa aa aa aa aa aa


hj
















    मा. अध्यक्ष, मध्यप्रदेश विधान सभा
   श्री गिरीश गौतम (एन. पी.)
   (दिनांक 22.02.2021 से निरंतर)







पिता का नाम स्व. श्री तीरथ प्रसाद गौतम
जन्मतिथि 28 मार्च, 1953
जन्म स्थान ग्राम करौदी, जिला-रीवा
वैवाहिक स्थिति विवाहित
पत्‍नी का नाम श्रीमती ललिता गौतम
संतान एक पुत्र, दो पुत्रियाँ
शैक्षनिक योग्यता बी.एस-सी., एल-एल.बी.
व्‍यवसाय कृषि
अभिरूचि अध्ययन, खेल, सामाजिक कार्य
स्थायी पता (1) ग्राम-करौदी, पो.-डेल्ही वाया मनगवां, जिला-रीवा (म.प्र.) (2) मोहल्ला उर्रहट, जिला-रीवा (म.प्र.)
स्‍थायी दूरभाष (07662) 242015
स्थानीय पता बी - 7, (74 बंगला), भोपाल (म.प्र.)
स्थानीय दूरभाष (0755) 2440694, 2440402, 2440683, 2440315 (फैक्स)

सार्वजनिक एवं राजनैतिक जीवन का संक्षिप्त विकास क्रम :

1972 से छात्र राजनीति में सक्रिय. 1977 से लगातार कृषकों एवं श्रमिकों के लिए संघर्ष. सन् 2003 में बारहवीं विधान सभा के सदस्‍य निर्वाचित. लोक लेखा, महिला एवं बाल कल्‍याण, अ.जा., अ.ज.जा. तथा पिछड़ा वर्ग कल्‍याण समिति के सदस्‍य. माध्‍यमिक शिक्षा मंडल एवं गृह, विमानन तथा शिक्षा विभाग की सलाहकार समितियों के सदस्‍य. सन् 2008 में तेरहवीं विधान सभा के सदस्‍य निर्वाचित. प्राक्‍कलन समिति, विशेषाधिकार समिति, सार्वजनिक उपक्रम समिति के सभापति एवं लोक लेखा, अ.जा., अ.ज.जा. तथा पिछड़े वर्ग के कल्‍याण एवं महिलाओं और बालकों के कल्‍याण संबंधी समिति के सदस्‍य. सन् 2013 में चौदहवीं विधान सभा के सदस्‍य निर्वाचित.2014-2015 में सदस्‍य, लोकलेखा समि‍ति, 2015-2018 में सभापति प्राक्‍कलन समिति, 2017-2018 में विशेष आमंत्रित सदस्‍य लोक लेखा समिति. जवाहर लाल नेहरू कृषि विश्‍वविद्यालय जबलपुर की प्रबंध सभा के सदस्‍य. 2016 में उत्‍तर मध्‍य रेल्‍वे परामर्शदात्री समिति के सदस्‍य. देवतालाब एवं नईगढ़ी महाविद्यालयों की जनभागीदारी समिति के सदस्‍य. शिक्षा से संबंधित परामर्शदात्री समितियों के सदस्‍य. सन् 2018 में चौथी बार विधान सभा सदस्‍य निर्वाचित.











    नेता प्रतिपक्ष, मध्यप्रदेश विधान सभा
    डॉ. गोविन्द सिंह
   (दिनांक 29.04.2022 से निरंतर)







पिता का नाम स्‍व. श्री ठा. मथुरा सिंह
जन्मतिथि 01 जुलाई,1951
जन्म स्थान ग्राम वैशपुरा, जिला भिण्ड
वैवाहिक स्थिति विवाहित
पत्‍नी का नाम श्रीमती सुमन सिंह
संतान 1 पुत्र, 1 पुत्री.
शैक्षनिक योग्यता बी.ए., बी.ए.एम.एस.
व्‍यवसाय कृषि
अभिरूचि समाज सेवा
स्थायी पता मुकाम पो. लहार, जिला-भिण्ड (म.प्र.), दूरभाष-(07529) 252010 मोबाइल-9425109782 फ़ैक्स-(07529) 2521010 ई-मेल-govind.singh@mpvidhansabha.nic.in, gsingh.1951@rediffmail.com
स्थानीय पता सी-22, शिवाजी नगर, भोपाल (म.प्र.) दूरभाष- (विधानसभा) 2441462,2441672

सार्वजनिक एवं राजनैतिक जीवन का संक्षिप्त विकास क्रम

1971-72 में पत्रिका सचिव एवं 1974-75 में शासकीय आयुर्वेद महाविद्यालय जबलपुर छात्र संघ के निर्वाचित अध्‍यक्ष. जबलपुर विश्‍वविद्यालय छात्र संघ कार्यकारिणी के सदस्‍य. 1979-82 में कृषि उपज मंडी समिति लहार के सदस्‍य. 1979-82 तथा 1984-85 में सहकारी विपणन संस्‍था मर्यादित लहार के निर्वाचित अध्‍यक्ष. 1984-86 में जिला सहकारी भूमि विकास बैंक भिण्‍ड के निर्वाचित संचालक. 1985-87 में नगर पालिका परिषद् लहार के अध्‍यक्ष. 1990 में नौवीं एवं 1993 में दसवीं विधान सभा के सदस्‍य निर्वाचित. जून 1994 से जून 1997 तक जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्र्वविद्यालय जबलपुर के संचालक मंडल के सदस्‍य. 1996-97, 1997-98 एवं 31 दिसंबर, 1998 तक विधान सभा की याचिका समिति के सदस्‍य. अप्रैल, 1997 से मध्‍यप्रदेश राज्‍य सहकारी भूमि विकास बैंक के संचालक. सितंबर, 1997 में सहकारिता के अध्‍ययन हेतु इटली, जर्मनी, इंग्‍लैंड, स्विटजरलैंड, नीदरलैंड (हालैंड), आस्ट्रिया, फ्रांस एवं दुबई का दौरा. 1997 में उत्‍कृष्‍ट विधायक चुने गए. 1998 में ग्‍यारहवीं विधानसभा के सदस्‍य निर्वाचित एवं 6 दिसम्‍बर, 1998 से राज्‍यमंत्री, गृह तदनंतर 26 अप्रैल, 2000 से राज्‍यमंत्री, सहकारिता (स्‍वतंत्र प्रभार) तथा 12 अगस्‍त, 2002 से मंत्री, सहकारिता विभाग रहे. 10 जनवरी, 2001 से 9 फरवरी, 2002 तक म.प्र. राज्‍य सहकारी विपणन संघ मर्यादित के संचालक. 10 दिसंबर, 2001 से 2 जनवरी 2002 तक म.प्र. राज्‍य सहकारी कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक के संचालक. 28 मार्च, 2002 से म.प्र. राज्‍य सहकारी आवास संघ के अध्‍यक्ष. 5 अगस्‍त, 2002 से भारतीय राष्‍ट्रीय सहकारी आवास संघ, नई दिल्‍ली के संचालक. अक्‍टूबर, 2002 में आई.सी.ए. रीजनल असेंबली में भाग लेने हेतु सिंगापुर एवं ''पार्लियामेंट ऑन पापुलेशन एंड डेव्‍हलपमेंट'' की सातवीं जनरल असेंबली में भाग लेने हेतु चीन और हांगकांग की यात्रा. वर्ष 1995 से वर्तमान तक प्रदेश कांग्रेस कमेटी एवं वर्ष 2005 से अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्‍य. 24 मार्च, 2008 से वर्तमान तक म.प्र. कांग्रेस कमेटी के उपाध्‍यक्ष. सन् 2003 में बारहवीं विधान सभा के सदस्‍य निर्वाचित एवं कांग्रेस विधायक दल के मुख्‍य सचेतक रहे. सन् 2008 में तेरहवीं विधान सभा के सदस्‍य निर्वाचित तथा 2009 से 2011 तक सभापति लोक लेखा समिति रहे. अप्रैल-मई, 2011 में भारतीय संसदीय संघ, मध्‍यप्रदेश शाखा के तत्‍वावधान में ग्रीस, स्‍पेन, आस्ट्रिया, स्विटजरलैंड, जर्मनी, नीदरलैंड, फ्रांस, यू.के. एवं यू.ए.ई. की यात्रा. वर्तमान में म.प्र. कांग्रेस कमेटी भोपाल के उपाध्‍यक्ष. सन् 2013 में छठी बार विधान सभा के सदस्‍य निर्वाचित. दिसम्‍बर, 2013 से जून, 2018 तक कार्यमंत्रणा समिति के सदस्‍य तथा अगस्‍त, 2014 से जून, 2018 तक रचना नगर आवासीय प्रकोष्‍ठ योजना के क्रियान्‍वयन के पर्यवेक्षण संबंधी अस्‍थाई आवास समिति के सदस्‍य. सन् 2016 में प्रदेश की विभिन्‍न समस्‍याओं को लेकर विधान सभा में सर्वाधिक ध्‍यानाकर्षण की सूचना लगाने पर उत्‍कृष्‍ट विधायक नवदुनिया संसदीय पुरस्‍कार से सम्‍मानित तथा 2017 में विधान सभा में सर्वाधिक भागीदारी के लिये सर्वश्रेष्‍ठ विधायक नईदुनिया संसदीय पुरस्‍कार से सम्‍मानित. सन् 2018 में सातवीं बार विधान सभा सदस्‍य निर्वाचित. दिनांक 29 दिसम्बर, 2018 से मंत्री सहकारिता एवं संसदीय कार्य विभाग, दिनांक 2 जनवरी, 2019 से सामान्य प्रशासन विभाग, दिनांक 13 मार्च से 20 मार्च, 2020 तक खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग का अतिरिक्त प्रभार रहा. सम्‍प्रति- दिनांक 29 अप्रैल, 2022 से नेता प्रतिपक्ष, मध्यप्रदेश विधान सभा.




















मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने मुख्य सचिव श्री सिंह को भेंट किया कृतज्ञता प्रस्ताव












सभी विभागों का मेन्युअल बनेगा : श्री परशुराम












स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव करवाना हमारा लक्ष्य


श्री बसंत प्रताप सिंह ने राज्य निर्वाचन आयुक्त का पदभार ग्रहण कर लिया है। श्री सिंह 31 दिसम्बर 2018 को मुख्य सचिव पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। श्री सिंह ने आयोग में अधिकारियों से चर्चा करते हुए कहा कि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव करवाना उनका लक्ष्य है।










मुख्य सचिव श्री मोहन्ती ने कार्यभार ग्रहण किया


मुख्य सचिव ने की विधानसभा के लम्बित कार्यों की समीक्षा
10 December 2019
भोपाल.मुख्य सचिव श्री सुधि रजंन मोहन्ती ने मंत्रालय में आयोजित बैठक में विधानसभा के लम्बित कार्यों की समीक्षा की। श्री मोहन्ती ने निर्देश दिये कि सभी विभागों में विधानसभा के लम्बित कार्यों की प्रति सप्ताह समीक्षा की व्यवस्था विकसित की जाए। बैठक में शून्यकाल, अपूर्ण प्रश्न, आश्वासन और लोक सेवा समितियों की सिफारिशों के निराकरण की विभागवार समीक्षा की गई।
मुख्य सचिव ने विधानसभा के दिसम्बर,2019 के सत्र में आने वाले संभावित विधेयकों की स्थिति की भी जानकारी ली। श्री मोहन्ती ने राजस्व, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, किसान कल्याण तथा कृषि विकास, सहकारिता तथा गृह विभाग को लम्बित कार्यो के त्वरित निराकरण के निर्देश दिए।
बैठक में अपर मुख्य सचिव जल संसाधन श्री एम.गोपाल रेड्डी, अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन श्री के.के.सिंह, अपर मुख्य सचिव आध्यात्म, पशुपालन तथा पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव संसदीय कार्य श्री मलय श्रीवास्तव सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

विधानसभा परिसर में बनेगी पंडित कुंजीलाल दुबे संसदीय विद्यापीठ : विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रजापति
17 September 2019
भोपाल.विधानसभा अध्यक्ष श्री एन.पी. प्रजापति ने कहा कि पंडित कुंजीलाल दुबे संसदीय विद्यापीठ भवन के लिये विधानसभा परिसर में स्थान देने पर विचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बहुत जल्द ही इस संबंध में निर्णय करेंगे। जनसंपर्क, विधि एवं विधायी कार्य मंत्री श्री पी.सी शर्मा ने कहा कि संसदीय विद्यापीठ के माध्यम से संसदीय प्रणाली की विभिन्न प्रतियोगिताओं में चयनित उत्कृष्ट विद्यार्थियों को अन्य देशों में भी संसदीय प्रणाली की कार्यवाही देखने समझने का अवसर दिलाने के लिये विदेश टूर पर भेजा जायेगा। आज विधानसभा के मानसरोवर सभागार में संसदीय विद्यापीठ द्वारा संसदीय प्रणाली पर निबंध और वाद-विवाद और युवा संसद प्रतियोगिता के विजेता छात्र-छात्राओं और शैक्षणिक संस्थाओं के पुरस्कार वितरण समारोह में विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रजापति और जनसंपर्क मंत्री श्री शर्मा ने उक्त बात कही।
विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रजापति ने कहा कि विद्यार्थी जीवन में संसदीय प्रणाली की जानकारी से बेहतर नागरिक और चुने हुये जन प्रतिनिधि जिनको पहले से ही संसदीय प्रणाली की अच्छी जानकारी होगी, वे बेहतर संसदीय सदस्य बनेंगे। यह भारतीय लोकतंत्र के लिये बहुत अच्छी बात है। संसदीय विद्यापीठ द्वारा आयोजित प्रतियोगिताओं से संसदीय प्रणाली की जानकारी विद्यार्थियों को दी जाती है।
जनसंपर्क मंत्री श्री शर्मा ने कहा कि विद्यार्थियों को अपने देश के लोकसभा और राज्यसभा के सदनों की कार्यवाही से परिचित कराने के साथ ही दूसरे देशों की संसदीय प्रणाली को देखने समझने के लिये विदेश दौरो पर भी संसदीय विद्यापीठ के माध्यम से विद्यार्थियों का दल विदेश भेजा जायेगा।
कार्यक्रम में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता संचार विवि के कुलपति श्री दीपक तिवारी ने भारतीय संसदीय प्रणाली के महात्व के संबंध में अनेक उदाहरण देते हुये कहा कि भारतीय संसदीय प्रणाली नागरिक को हर प्रकार के अधिकार देती है।
कार्यक्रम में प्रमुख सचिव विधानसभा श्री ए.पी. सिंह, संचालक पंडित कुंजीलाल दुबे संचालक श्रीमति प्रतिमा दुबे और अन्य अतिथि छात्र-छात्रायें और शैक्षणिक संस्थाओं के शिक्षक मौजूद थे।


दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि देने के बाद कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित
22 July 2019
भोपाल। विधानसभा में आज वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और सदन के पूर्व सदस्य नेमीचंद जैन को श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद दिवंगतों के सम्मान में कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई।
कार्यवाही शुरू होते ही अध्यक्ष एनपी प्रजापति ने शीला दीक्षित और नेमीचंद जैन के निधन का उल्लेख करते हुए सदन की ओर से श्रद्धांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री कमलनाथ और अन्य सदस्यों ने भी श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके बाद सदन में दो मिनट का मौन रखा गया और कार्यवाही मंगलवार सुबह ग्यारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।
इस मौके पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि देश की राजनीति में शीला दीक्षित उन बिरले लोगों में शुमार रहीं, जिन्होंने केंद्र में मंत्री, किसी राज्य की राज्यपाल और मुख्यमंत्री के तौर पर लंबे समय तक काम किया हो। उन्होंने कहा कि श्रीमती दीक्षित ने दिल्ली के विकास का नक्शा बनाया। उन्हीं की बदौलत दिल्ली की सूरत बदल गई।
नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि श्रीमती दीक्षित ने देश की राजधानी को नई सूरत दी। उन्होंने कहा कि जब से श्रीमती दीक्षित दिल्ली की मुख्यमंत्री पद से हटीं, तब से एक रिक्तता आ गई।


विधानसभा की बैठकें 20 एवं 21 जुलाई को भी आयोजित होंगी जनहित को ध्यान में रखते हुए छुट्टी के दिन भी विधानसभा सत्र जारी रखना, कमलनाथ सरकार का ऐतिहासिक निर्णय
11 July 2019
मध्यप्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा ने आज जारी एक बयान में प्रदेश की कमलनाथ सरकार के निर्णय का स्वागत करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश विधानसभा की कार्यमंत्रणा समिति की 8 जुलाई 2019 को संपन्न हुई बैठक की सिफारिशों को 9 जुलाई 2019 को सदन ने मंजूरी प्रदान की, जिसमें कमलनाथ सरकार का वह ऐतिहासिक निर्णय भी शामिल है, जिसमें छुट्टी के दिनों में भी जनहित का ध्यान रखते हुए विधानसभा की बैठकें आयोजित करने का फैसला लिया गया है।
श्रीमती ओझा ने कहा कि सदन ने कार्यमंत्रणा समिति की सिफारिश को मंजूरी प्रदान करते हुए निर्णय लिया कि विधानसभा की जो बैठकें 15 एवं 16 जुलाई 2019 को होना निर्धारित की गई थीं, वे बैठकें अब शनिवार 20 जुलाई और रविवार 21 जुलाई 2019 को संपन्न होंगी। यह कमलनाथ सरकार का ऐतिहासिक फैसला है। इस निर्णय से यह भी साफ हो गया है कि कमलनाथ सरकार विधानसभा का सत्र चलाने व संवाद के साथ-साथ सकारात्मक और रचनात्मक सुझावों का चर्चा के जरिये न केवल स्वागत करती है, बल्कि संवाद के लिए अवसर भी प्रदान करती है।
श्रीमती ओझा ने कहा कि कांग्रेस ही वह पार्टी है, जो छुट्टी के दिन विधानसभा का सत्र चलाने का कार्य करने की मंशा रखती आई है। यहां यह उल्लेखनीय है कि अप्रैल 1982 में जब प्रदेश में कांग्रेस की सरकार थी, उस समय भी छुट्टी के दिन विधानसभा की बैठक हुई थी और उसमें जनहित के कार्यों पर चर्चा के साथ ही महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये थे।
श्रीमती ओझा ने कहा कि जनहित को लेकर कांग्रेस पार्टी की पवित्र मंशा को दर्शाने वाले इस जनहितैषी निर्णय के ठीक उलट, पूर्ववर्ती भाजपा सरकार सदन को चलाने में विश्वास नहीं रखती थी, तभी तो प्रदेश की जनता ने, उन्हें प्रतिपक्ष की भूमिका में पहुंचा दिया है और कांग्रेस पार्टी को माननीय कमलनाथ जी के नेतृत्व में सत्तापक्ष की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी है।
श्रीमती ओझा ने कहा कि कांग्रेस सरकार का यह निर्णय संसदीय पद्धति और प्रक्रिया के अंतर्गत लिया गया है। यह कार्य जहां संसदीय परंपरा और नियमों को नई ऊंचाई प्रदान करेगा, वहीं यह लोकतंत्र की मजबूती के लिए लिया गया एक सुखद फैसला भी है।

भाजपा सरकार में चमगादड़ से बिजली गुल का पर्दाफाश
11 July 2019
प्रदेश कांग्रेस मीडिया उपाध्यक्ष अभय दुबे और प्रदेश कांगे्रस के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने संयुक्त रूप से बताया है कि यह बेदह दुर्भाग्यपूर्ण है कि आज जब प्रदेश के ऊर्जा मंत्री ने तथ्यात्मक रूप से इस बात को सदन में रखा कि चमगादड़ की बजह से लाईट (ट्रिपिंग) जाती है तो नेता प्रतिपक्ष ने उपहास उड़ाया और कहा कि यह संभव नहीं है।
मध्यप्रदेश कांगे्रस कमेटी प्रामाणिक दस्तावेजों के साथ यह सिद्ध कर रही है कि भाजपा सरकार के दौरान कमलापार्क क्षेत्र में एक माह में ही अर्थात 10 मई 2018 से 30 मई 2018 तक अकेले कमलापार्क क्षेत्र में 35 बार रात 12 बजे से अपरान्ह 4 बजे तक की अवधि में ट्रिपिंग हुई है। इतना ही नहीं सुपरवाईजरी कंट्रोल एंड डेटा एक्विजीशन की इंदौर, भोपाल और जबलपुर की वृत की रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है कि 5 मिनिट से लेकर एक घंटे तक विद्युत आपूर्ति भाजपा शासनकाल में अधिक बाधित होती थी।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया प्रदेश कांगे्रस कार्यालय पहुंचे, कांगे्रसजनों से मिले
11 July 2019
पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया आज अपने निर्धारित दौरा कार्य के अनुसार सुबह 11 बजे भोपाल पहुंचे। वे विधानसभा कार्यवाही देखने पहुंचे। उन्होंने वहां पर मीडिया से चर्चा की, तत्पश्चात मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी के निवास पर पहुंचे।
श्री सिंधिया दोपहर में प्रदेश कांगे्रस कार्यालय पहुंचे जहां प्रदेश कांगे्रस के उपाध्यक्ष चंद्रप्रभाष शेखर, प्रकाश जैन, महामंत्री राजीव सिंह, मीडिया अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा, मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा, मीडिया उपाध्यक्ष अभय दुबे और भूपेन्द्र गुप्ता, प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी, आदि ने सूत की माला पहनाकर उनका स्वागत किया। श्री सिंधिया ने प्रदेश कांगे्रस कार्यालय में कांगे्रस के सभी वरिष्ठ नेताओं, कार्यकर्ताओं से मुलाकात कर चर्चा की। इसके बाद वे वरिष्ठ नेता सरताजसिंह का स्वास्थ्य हाल जानने नेशनल हाॅस्पिटल पहुंचे। श्री सिंधिया स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट और मनोज माथुर के निवास पर भी सौजन्य भेंट करने पहुंचे। इस दौरान वे इंडियन काफी हाउस भी गये। उनका रात्रि विश्राम होटल नूर-उस-सबाह में रहेगा। श्री सिंधिया शुक्रवार को सुबह 8 बजे भोपाल से रवाना होकर सुबह 9.25 बजे दिल्ली पहुंचेंगे।
इस अवसर पर प्रदेश कांगे्रस कार्यालय में प्रवक्तागण जे.पी. धनोपिया, रवि सक्सेना, दुर्गेश शर्मा, स्वदेश शर्मा, संतोष सिंह गोतम, अब्बास हासमी, अजयसिंह यादव, शाहवर आलम, गिरीश शर्मा, युवा नेता कृष्णा घाड़गे सहित बड़ी संख्या में कांगे्रस पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।