Untitled Document


register
REGISTER HERE FOR EXCLUSIVE OFFERS & INVITATIONS TO OUR READERS

REGISTER YOURSELF
Register to participate in monthly draw of lucky Readers & Win exciting prizes.

EXCLUSIVE SUBSCRIPTION OFFER
Free 12 Print MAGAZINES with ONLINE+PRINT SUBSCRIPTION Rs. 300/- PerYear FREE EXCLUSIVE DESK ORGANISER for the first 1000 SUBSCRIBERS.

   >> सम्पादकीय
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> आपकी शिकायत
   >> पर्यटन गाइडेंस सेल
   >> स्टुडेन्ट गाइडेंस सेल
   >> सोशल मीडिया न्यूज़
   >> नॉलेज फॉर यू
   >> आज खास
   >> राजधानी
   >> कवर स्टोरी
   >> विश्व डाइजेस्ट
   >> बेटी बचाओ
   >> आपके पत्र
   >> अन्ना का पन्ना
   >> इन्वेस्टीगेशन
   >> मप्र.डाइजेस्ट
   >> निगम मण्डल मिरर
   >> मध्यप्रदेश पर्यटन
   >> भारत डाइजेस्ट
   >> सूचना का अधिकार
   >> सिटी गाइड
   >> लॉं एण्ड ऑर्डर
   >> सिटी स्केन
   >> जिलो से
   >> हमारे मेहमान
   >> साक्षात्कार
   >> केम्पस मिरर
   >> हास्य - व्यंग
   >> फिल्म व टीवी
   >> खाना - पीना
   >> शापिंग गाइड
   >> वास्तुकला
   >> बुक-क्लब
   >> महिला मिरर
   >> भविष्यवाणी
   >> क्लब संस्थायें
   >> स्वास्थ्य दर्पण
   >> संस्कृति कला
   >> सैनिक समाचार
   >> आर्ट-पावर
   >> मीडिया
   >> समीक्षा
   >> कैलेन्डर
   >> आपके सवाल
   >> आपकी राय
   >> पब्लिक नोटिस
   >> न्यूज मेकर
   >> टेक्नोलॉजी
   >> टेंडर्स निविदा
   >> बच्चों की दुनिया
   >> स्कूल मिरर
   >> सामाजिक चेतना
   >> नियोक्ता के लिए
   >> पर्यावरण
   >> कृषक दर्पण
   >> यात्रा
   >> विधानसभा
   >> लीगल डाइजेस्ट
   >> कोलार
   >> भेल
   >> बैरागढ़
   >> आपकी शिकायत
   >> जनसंपर्क
   >> ऑटोमोबाइल मिरर
   >> प्रॉपर्टी मिरर
   >> सेलेब्रिटी सर्कल
   >> अचीवर्स
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> जीवन दर्शन
   >> कन्जूमर फोरम
   >> पब्लिक ओपिनियन
   >> ग्रामीण भारत
   >> पंचांग
   >> येलो पेजेस
   >> रेल डाइजेस्ट
 




मंत्रि-परिषद /सांसद/विधायक     : फीचर :

कमलनाथ सरकार के असंवैधानिक कृत्य के खिलाफ भाजपा विधायक राज्यपाल से मिले
भाजपा ने कराई विधायक परेड ,राज्यपाल ने कहा वह संवैधानिक अधिकारों की रक्षा करेंगे

16 March 2020
भोपाल। प्रदेश की कांग्रेस सरकार द्वारा फ्लोर टेस्ट न कराए जाने तथा अनुचित तरीके से विधानसभा की कार्रवाई 26 मार्च तक स्थगित किए जाने के बाद भारतीय जनता पार्टी के विधायक राज्यपाल महोदय से मिले। 106 विधायकों ने भौतिक रूप से राज्यपाल महोदय के सामने उपस्थित होकर यह बता दिया कि प्रदेश की कमलनाथ सरकार सत्ता में बने रहने का अधिकार खो चुकी है और बहुमत भारतीय जनता पार्टी के पास है।
विधानसभा के बजट सत्र के पहले सोमवार को कांग्रेस सरकार ने राज्यपाल महोदय के आदेश की अवज्ञा करते हुए फ्लोर टेस्ट नहीं कराया। यही नहीं, बल्कि सरकार ने कोरोना वायरस का बहाना लेकर विधानसभा की कार्रवाई 26 मार्च तक के लिये स्थगित कर दी, जबकि अभी तक प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण का एक भी मामला सामने नहीं आया है। सरकार की इस कार्रवाई का विधानसभा में जमकर विरोध करने के बाद पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश संगठन प्रभारी डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे, प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा, नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव, पूर्व मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, श्री भूपेंद्र सिंह के नेतृत्व में सभी भाजपा विधायक राजभवन पहुंचे और राज्यपाल महोदय से भेंट की। विधायकों ने राज्यपाल महोदय से चर्चा के करते हुए उन्हें बताया कि प्रदेश की कमलनाथ सरकार शासन करने का संवैधानिक अधिकार खो चुकी है। बहुमत न होने के कारण ही कमलनाथ सरकार विधानसभा की कार्रवाई से बचकर भागी है और सत्र को अनुचित तरीके से 26 मार्च तक के लिये स्थगित कर दिया गया है। विधायकों से चर्चा के दौरान माननीय राज्यपाल महोदय ने आश्वासन दिया कि वे विधायकों के संवैधानिक अधिकारों की रक्षा करेंगे और इसके लिये सभी आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। राज्यपाल महोदय ने विधायकों को आश्वासन दिया कि प्रजातंत्र की रक्षा अब मेरी जिम्मेदारी है।

पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को भाजपा में शामिल होने पर दी बधाई
14 March 2020
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने पर बधाई दी है। वरिष्ठ नेताओं ने श्री सिंधिया के भाजपा परिवार में शामिल होने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि श्री सिंधिया उर्जावान नेता है। उनके भाजपा में शामिल होने से पार्टी और मजबूत होगी।
भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता श्री कैलाष नारायण सारंग, पूर्व मुख्यमंत्री एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री षिवराजसिंह चौहान, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुश्री उमा भारती, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व सांसद श्री प्रभात झा, केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्रसिंह तोमर, श्री थावरचन्द्र गेहलोत, श्री प्रहलाद पटेल, श्री फग्गनसिंह कुलस्ते, पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव श्री कैलाष विजयवर्गीय, पार्टी की राष्ट्रीय सचिव श्रीमती ज्योति धु्रर्वे, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष श्री विक्रम वर्मा, डॉ. सत्यनारायण जटिया, सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान, सांसद श्री राकेश सिंह, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत एवं नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण करने पर उनका स्वागत किया है। दिल्ली राष्ट्रीय कार्यालय में श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर रहे थे, इधर प्रदेश के भाजपा प्रदेश कार्यालय में कार्यकर्ताओं ने शंख बजाकर अपनी खुशी व्यक्त की।
श्री विष्णुदत्त शर्मा ने श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को भारतीय जनता पार्टी परिवार में शामिल होने पर हार्दिक बधाई देते हुए कहा कि उनके पार्टी में आने से पार्टी आगामी समय में और उर्जावान बनेगी। श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में विश्वास करते हुए सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास के मूलमंत्र को मानते हुए श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया राष्ट्र और जनता की सेवा के लिए भारतीय जनता पार्टी परिवार में सम्मिलित हुए है, मैं उनका स्वागत करता हूं। श्री सिंधिया युवा, उर्जावान और कल्पनाशील होने के साथ साथ उन्होंने हमेशा राजनीति को सेवा का माध्यम माना है। 2018 में उत्साह से उन्होंने कांग्रेस के लिए प्रदेश में काम किया था, लेकिन कांग्रेस ने जनता से किए वादे नहीं निभाए।
नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का पार्टी में शामिल होने पर स्वागत करते हुए कहा कि सिंधिया जी युवा और उर्जावान नेता है। उनके भाजपा परिवार में शामिल होने से पार्टी को लाभ होगा।
पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अरविन्द सिंह भदौरिया, श्री विनोद गोटिया, श्रीमति रंजना बघेल, सुश्री उषा ठाकुर, श्री रामलाल रौतेल, श्री प्रदीप लारिया, श्री सुदर्शन गुप्ता, श्री रामेश्वर शर्मा, श्री विजेश लुणावत, श्री जीतू जिराती, प्रदेश महामंत्री श्री अजयप्रताप सिंह, श्री बंशीलाल गुर्जर, प्रदेश मंत्री श्रीमति संपतियां उइके, श्री बृजेन्द्रप्रताप सिंह, श्रीमति कृष्णा गौर, श्री कन्हईराम रघुवंशी, श्री बुद्धसेन पटेल, श्री सरतेन्दु तिवारी, श्री रघुनाथ भाटी, श्री पंकज जोशी, सुश्री कविता पाटीदार, प्रदेश कोषाध्यक्ष श्री हेमंत खण्डेलवाल, प्रदेश कार्यालय मंत्री श्री सत्येन्द्र भूषण सिंह, श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, भोपाल संभाग के संभागीय संगठन मंत्री श्री आशुतोष तिवारी, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेन्द्र पाराशर, प्रदेश सह मीडिया प्रभारी श्री संजय गोविन्द खोचे, श्री उदय अग्रवाल, श्री सर्वेश तिवारी, प्रदेश मुख्य प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय, प्रदेश प्रवक्ता श्री आलोक संजर, प्रो. चिंतामणि मालवीय, श्री रजनीश अग्रवाल, श्री नागरसिंह चौहान, सुश्री राजो मालवीय, श्री हिदायतुल्लाह शेख, श्री राहुल कोठारी, श्री उमेश शर्मा एवं श्री राजपाल सिंह सिसोदिया ने श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का भाजपा में शामिल होने पर स्वागत किया है।

सिंधिया जी का आना सुखद संकेत, अब सब मिलकर अन्याय के खिलाफ लड़ेंगे
प्रदेश कार्यालय में श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के स्वागत समारोह में बोले पार्टी नेता

14 March 2020
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता लेने के बाद श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा प्रदेश कार्यालय पहुंचने पर अभूतपूर्व स्वागत किया गया। ढोल-ढमाकों पर थिरकते कार्यकर्ताओं ने जोश और उत्साहपूर्वक श्री सिंधिया का स्वागत किया। इस अवसर पर आयोजित स्वागत समारोह में प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने श्री सिंधिया के पार्टी में आगमन को एक सुखद संकेत बताया। उन्होंने श्री सिंधिया को जहां एक तरफ यह भरोसा दिलाया कि पार्टी के कार्यकर्ता उन्हें कभी शिकायत का अवसर नहीं देंगे, वहीं दूसरी तरफ सबके साथ सम्मिलित रूप से अन्याय के खिलाफ संघर्ष करने के संकल्प को भी दोहराया। इस अवसर पर श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भावुक शब्दों में पार्टी काय्रकर्ताओं को यह भरोसा दिलाया कि अब मेरा एक ही लक्ष्य होगा और वह है आप सब के दिलों में जगह बनाना। इससे पूर्व एयरपोर्ट पर पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने श्री सिंधिया का भावभीना स्वागत किया और श्री सिंधिया को एक रोड शो के रूप में प्रदेश कार्यालय लाया गया।
सब मिलकर कांग्रेस की लंका को खाक कर देंगेः शिवराजसिंह चौहान
स्वागत समारोह को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री एवं पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जब से भारतीय जनता पार्टी में आए हैं, कांग्रेसी सो नहीं पाए हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के लिये सत्ता सेवा का माध्यम है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में एक गौरवशाली, वैभवशाली और समृद्धशाली राष्ट्र का निर्माण हो रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने चुनाव के दौरान मध्यप्रदेश में स्वर्ग बनाने की बात कही थी, परंतु आज तक कर्जामाफ नहीं कर पायी। प्रदेश को अराजकता में झौंकने का काम कमलनाथ सरकार ने किया है। इस सरकार का जनता से कोई सरोकार नहीं है। युवाओं को रोजगार नहीं मिल रहा है। बेटियों को कन्यादान की राशि, लाड़ली लक्ष्मी की राशि नहीं मिली है। उन्होंने कहा कि इस सरकार के पास किसानों के लिए पैसा नहीं है लेकिन आईफा के लिए भरपूर पैसा है। श्री चौहान ने कहा कि मिस्टर बंटाढार हम तो डूबेंगे सनम तुमको भी ले डूबेंगे की तर्ज पर कमलनाथ सरकार को ले डूबे है। इस सरकार ने भाजपा कार्यकर्ताओं, जनप्रतिनिधियों और जनता पर लगातार अत्याचार किए हैं। हर किसी पर केस दर्ज कराकर प्रताडित करने का काम किया। लेकिन अब सिंधिया जी हमारे साथ हैं और कांग्रेस की लंका को हम सब मिलकर जलाकर राख कर देंगे। हम सब संकल्प लेते हैं कि कांग्रेस सरकार को जब तक उखाडकर नहीं फेंकेगे चैन से नहीं बैठेंगे।

हम सब मिलकर अराजक प्रदेश सरकार को उखाड़ फेंकेंगेः विष्णुदत्त शर्मा
प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा ने श्री सिंधिया का स्वागत करते हुए कहा भाजपा का एक एक कार्यकर्ता आपका स्वागत करता है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में आज फिर से अन्याय के खिलाफ शंखनाद हुआ है। 1967 में डी.पी.मिश्रा जी की घोर अराजक सरकार को राजमाता जी ने उखाड़ फेंका था। अब ज्योतिरादित्य सिंधिया जी हमारे बीच हैं, निश्चित रूप से यह देखकर स्व. राजमाता जी आत्मा भी संतुष्ट हुई होगी। अब हम सब मिलकर प्रदेश की अराजक सरकार को उखाड़ फेंकेंगे। श्री शर्मा ने कहा कि आज सिंधिया जी ने हिम्मत करके जो निर्णय लिया है, वह स्वागत योग्य है। सिंधिया जी ने प्रदेश कांग्रेस सरकार को कहा था कि प्रदेश में गरीबों के साथ अन्याय हुआ, तो मैं सड़क पर उतरूंगा। अब वह सड़क पर उतरे और कांग्रेस सड़क पर आ गयीं है। उन्होंने कहा कि सिंधिया जी ने मध्यप्रदेश में संघर्ष किया है। मैं उन्हें भरोसा दिलाना चाहता हूं कि भारतीय जनता पार्टी में शामिल होते समय उन्होंने जो संकल्प लिया था, पार्टी का हर कार्यकर्ता उस संकल्प को पूरा करने में उनके साथ है।
सिंधिया का आगमन शुभ संकेतः नरेंद्रसिंह तोमर
केंद्रीय मंत्री श्री नरेंद्रसिंह तोमर ने श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जी का स्वागत करते हुए कहा कि उनका भाजपा में आगमन पार्टी के लिये और प्रदेश की राजनीति के लिये एक शुभ संकेत है। उन्होंने कहा कि ग्वालियर का इतिहास अत्यंत गौरवशाली रहा है। 1967 में कांग्रेस ने राजमाता सिंधिया जी के सम्मान को ठेस पहुंचाई थी। उस समय राजमाता जी के नेतृत्व में तत्कालीन सरकार को धराशायी कर दिया गया था। अब यह दूसरा अवसर है, जब स्वाभिमान की रक्षा के लिये ज्योतिरादित्य सिंधिया जी ने कांग्रेस की सत्ता को ठुकराया है। श्री तोमर ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी एक विचार आधारित , कार्यकर्ता आधारित परिवार है। एक कार्यकर्ता होने के नाते और एक केंद्रीय मंत्री होने के नाते मैं सिंधिया जी को यह विश्वास दिलाना चाहता हूं कि आपने जो साहस दिखाया है, पार्टी के कार्यकर्ता आपको कभी भी शिकायत का अवसर नहीं देंगे।
सिंधिया जी के आने से उत्साह का संचार हुआः गोपाल भार्गव
नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का स्वागत करते हुए कहा कि उनका आगमन मध्यप्रदेश ही नहीं देश देश की राजनीति के लिये भी सुखद है। उन्होंने कहा कि राजमाता विजयाराजे सिंधिया जी ने जो पार्टी रूपी पौधा रोपा था, वह आज वटवृक्ष बन गया है। उन्होंने कहा कि उनके पार्टी में आने से देश के नौजवानों में उत्साह का संचार हुआ है। श्री भार्गव ने कहा कि सिंधिया जी आगे बढ़ें, भाजपा का एक एक कार्यकर्ता आपके सम्मान की रक्षा के लिए कृतसंकल्पित है। मध्यप्रदेश के विकास में आप और हम मिलकर अमूल्य योगदान देंगे।
आप पसीना बहायेंगे, मैं आपके लिये खून बहाऊंगाः सिंधिया
उपस्थित पार्टी काय्रकर्ताओं एवं नेताओं को संबोधित करते हुए श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मैं सौभाग्यशाली हूं कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी, पूर्व अध्यक्ष व गृह मंत्री श्री अमित शाह और परिवार के मुखिया श्री जेपी नड्डा जी के आशीर्वाद से इस परिवार में प्रवेश के द्वारा मेरे लिये खोले गए। उन्होंने कहा कि आज का दिन मेरे लिए भावुक है। जिस संगठन में मैंने 20 साल बिताए, कड़ी मेहनत, लगन, संकल्प और पसीने की एक एक बूंद बहायी। उस पार्टी को छोड़कर आज खुद को आपके हवाले कर रहा हूं। उन्होंने कहा कि मैं विश्वास दिलाता हूं कि अब मेरा एक ही लक्ष्य होगा आपके दिल में स्थाना पाना। आप पसीना बहायेंगे मैं आपके लिए अपना खून बहाउंगा। श्री सिंधिया ने कहा कि चाहे स्व. अटलजी हों, या प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी या सिंधिया परिवार की मेरी दादी विजयाराजे सिंधिया, मेरे पिताजी स्व. माधवराव सिंधिया हों, सभी का लक्ष्य जनसेवा रहा है और सिंधिया परिवार का मुखिया होने के नाते मेरा लक्ष्य भी जनसेवा है। हमारे लिए कुर्सी और पद महत्वपूर्ण नहीं होता। हमारे लिए महत्वपूर्ण सम्मान, पहचान और आपके हृदय में स्थान पाना है। उन्होंने कहा कि किसी दल के अंदर रहकर आलोचना करना मुश्किल होता है। लेकिन मैं सिंधिया परिवार का खून हूं जो सही है उसे सही बोलता हूं। 1967 में मेरी दादी को ललकारा था, तब संविद सरकार का क्या हुआ सब जानते है। 1990 में मेरे पिताजी के उपर झूठे हवाला कांड के आरोप लगाए और जब मैंने अतिथि विद्वानों, किसानों की बात उठाते हुए सडक पर उतरने की बात कही तो मुझे कहा कि उतरना है तो उतरो। सिंधिया परिवार को जब ललकारा जाता है तो परिणाम अलग होते है। आज मेरा सौभाग्य है, जिस दल को मेरी पूज्य दादी ने अपने पसीने से स्थापित किया। मेरे पिताजी ने जिस दल से राजनैतिक शुरूआत की। आज ज्योतिरादित्य सिंधिया सब छोड़कर उस दल में आया है। उन्होंने कहा कि 2018 के चुनाव में हम आमने सामने थे लेकिन आज हम साथ है। दल अलग हो सकते है, राजनैतिक विचार अलग हो सकती है लेकिन पक्ष विपक्ष में बैठकर मनभेद नहीं होना चाहिए। श्री शिवराजसिंह चौहान जैसा जनता के लिए दिन रात मेहनत करने वाला कार्यकर्ता देश और प्रदेश में बिरले ही मिलते है। आप और हम मिलकर एक और एक दो नहीं ग्यारह होंगे। इस प्रदेश के विकास में हम सहभागी बनेंगे।
इस अवसर पर विधानसभा में मुख्य सचेतक डॉ. नरोत्तम मिश्रा, पूर्व मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह, श्रीमती यशोधराराजे सिंधिया, प्रदेश महामंत्री श्री बंशीलाल गुर्जर, श्री जफर इस्लाम सहित पदाधिकारी मंचासीन थे।
एयरपोर्ट पर वरिष्ठ नेताओं ने की अगवानी, कार्यकर्ताओं ने किया स्वागत
दिल्ली से पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्रसिंह तोमर भोपाल पहुंचे। एयरपोर्ट पर पार्टी प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णुदत्त शर्मा के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत किया। इस अवसर पर नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव, जिलाध्यक्ष श्री विकास विरानी, श्री आलोक शर्मा, श्री आलोक संजर सहित वरिष्ठ नेताओं ने उनका फूलमालाओं से स्वागत किया। प्रदेश कार्यालय पहुंचने पर श्री सिंधिया का श्री नरेन्द्रसिंह तोमर, श्री शिवराजसिंह चौहान, श्री गोपाल भार्गव ने पुष्पगुच्छ भेंटकर स्वागत किया।
श्री सिंधिया एवं श्री सोलंकी 13 को भरेंगे नामांकन
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं डॉ. सुमेर सिंह सोलंकी 13 मार्च को राज्यसभा चुनाव के लिए अपना नामांकन पत्र दाखिल करेंगे। श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं डॉ. सुमेर सिंह सोलंकी 13 मार्च को दोपहर 12 बजे भाजपा कार्यालय पं. दीनदयाल परिसर पहुंचेंगे। यहां पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में राज्यसभा के उम्मीदवार द्वय श्री सिंधिया एवं श्री सोलंकी प्रदेश कार्यालय स्थित पं. दीनदयाल उपाध्याय जी, श्रीमंत राजामाता विजयाराजे सिंधिया जी, पितृपुरूष कुशाभाऊ ठाकरे जी की प्रतिमा माल्यार्पण कर नामांकन दाखिल करने विधानसभा रवाना होंगे।
श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं डॉ. सुमेर सिंह सोलंकी विधानसभा पहुंचकर पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री प्रभात झा, केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर, प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा, नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव, श्री नरोत्तम मिश्रा, श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, श्री भूपेन्द्र सिंह, श्री रामपाल सिंह, श्रीमती माया सिंह सहित पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की उपस्थिति में नामांकन दाखिल करेंगे।

श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जी कल 12 मार्च को भोपाल आयेंगे, 13 को भरेंगे नामांकन
11 March 2020
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया कल अपरान्ह 3 बजे विमान द्वारा भोपाल पहुंचेंगे। वे राजाभोज विमानतल से चलकर भाजपा कार्यालय पं. दीनदयाल परिसर पहुंचेंगे। यहां पं. दीनदयाल उपाध्याय जी, श्रीमंत राजामाता विजयाराजे सिंधिया जी, मध्यप्रदेश भाजपा के पितृपुरूष कुशाभाऊ ठाकरे जी की प्रतिमा और स्व. माधवराव सिंधिया जी के चित्र पर माल्यार्पण करेंगे। भाजपा कार्यालय में श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का स्वागत कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा।
श्री सिंधिया 13 मार्च को दोपहर 12 बजे पुनः भाजपा कार्यालय पधारेंगे और महापुरूषों के चित्र पर माल्यार्पण करने के पश्चात राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने विधानसभा परिसर जायेंगे।

पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को भाजपा में शामिल होने पर दी बधाई
11 March 2020
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने पर बधाई दी है। वरिष्ठ नेताओं ने श्री सिंधिया के भाजपा परिवार में शामिल होने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि श्री सिंधिया उर्जावान नेता है। उनके भाजपा में शामिल होने से पार्टी और मजबूत होगी।
भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता श्री कैलाष नारायण सारंग, पूर्व मुख्यमंत्री एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री षिवराजसिंह चौहान, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुश्री उमा भारती, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व सांसद श्री प्रभात झा, केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्रसिंह तोमर, श्री थावरचन्द्र गेहलोत, श्री प्रहलाद पटेल, श्री फग्गनसिंह कुलस्ते, पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव श्री कैलाष विजयवर्गीय, पार्टी की राष्ट्रीय सचिव श्रीमती ज्योति धु्रर्वे, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष श्री विक्रम वर्मा, डॉ. सत्यनारायण जटिया, सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान, सांसद श्री राकेश सिंह, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत एवं नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण करने पर उनका स्वागत किया है। दिल्ली राष्ट्रीय कार्यालय में श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर रहे थे, इधर प्रदेश के भाजपा प्रदेश कार्यालय में कार्यकर्ताओं ने शंख बजाकर अपनी खुशी व्यक्त की।
श्री विष्णुदत्त शर्मा ने श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को भारतीय जनता पार्टी परिवार में शामिल होने पर हार्दिक बधाई देते हुए कहा कि उनके पार्टी में आने से पार्टी आगामी समय में और उर्जावान बनेगी। श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में विश्वास करते हुए सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास के मूलमंत्र को मानते हुए श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया राष्ट्र और जनता की सेवा के लिए भारतीय जनता पार्टी परिवार में सम्मिलित हुए है, मैं उनका स्वागत करता हूं। श्री सिंधिया युवा, उर्जावान और कल्पनाशील होने के साथ साथ उन्होंने हमेशा राजनीति को सेवा का माध्यम माना है। 2018 में उत्साह से उन्होंने कांग्रेस के लिए प्रदेश में काम किया था, लेकिन कांग्रेस ने जनता से किए वादे नहीं निभाए।
नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का पार्टी में शामिल होने पर स्वागत करते हुए कहा कि सिंधिया जी युवा और उर्जावान नेता है। उनके भाजपा परिवार में शामिल होने से पार्टी को लाभ होगा।
पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अरविन्द सिंह भदौरिया, श्री विनोद गोटिया, श्रीमति रंजना बघेल, सुश्री उषा ठाकुर, श्री रामलाल रौतेल, श्री प्रदीप लारिया, श्री सुदर्शन गुप्ता, श्री रामेश्वर शर्मा, श्री विजेश लुणावत, श्री जीतू जिराती, प्रदेश महामंत्री श्री अजयप्रताप सिंह, श्री बंशीलाल गुर्जर, प्रदेश मंत्री श्रीमति संपतियां उइके, श्री बृजेन्द्रप्रताप सिंह, श्रीमति कृष्णा गौर, श्री कन्हईराम रघुवंशी, श्री बुद्धसेन पटेल, श्री सरतेन्दु तिवारी, श्री रघुनाथ भाटी, श्री पंकज जोशी, सुश्री कविता पाटीदार, प्रदेश कोषाध्यक्ष श्री हेमंत खण्डेलवाल, प्रदेश कार्यालय मंत्री श्री सत्येन्द्र भूषण सिंह, श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, भोपाल संभाग के संभागीय संगठन मंत्री श्री आशुतोष तिवारी, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेन्द्र पाराशर, प्रदेश सह मीडिया प्रभारी श्री संजय गोविन्द खोचे, श्री उदय अग्रवाल, श्री सर्वेश तिवारी, प्रदेश मुख्य प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय, प्रदेश प्रवक्ता श्री आलोक संजर, प्रो. चिंतामणि मालवीय, श्री रजनीश अग्रवाल, श्री नागरसिंह चौहान, सुश्री राजो मालवीय, श्री हिदायतुल्लाह शेख, श्री राहुल कोठारी, श्री उमेश शर्मा एवं श्री राजपाल सिंह सिसोदिया ने श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का भाजपा में शामिल होने पर स्वागत किया है।

25 वर्षो बाद भोपाल के लिये बड़ी उपलब्धि मास्टर प्लान -कॉम्पिस्ट
9 March 2020
कॉम्पिस्ट की आज दिनांक 8 मार्च 2020 को प्रबंधन समिति की बैठक कॉम्पिस्ट कार्यालय 96, अनंत हाउस मालवीय नगर, भोपाल में संपन्न हुई, जिसमें कॉम्पिस्ट के प्रत्येक संस्थापक सदस्य ने एक सुर में कहा कि अब नयें मास्टर प्लान के क्रियान्वयन से भोपाल देश के सबसे सुंदर एंव सर्वोत्तम और प्रथम श्रेणी के शहरों में होगा । आज मध्यप्रदेश में सबसे तेजी से विकास भोपाल का हो रहा है, भोपाल की हरियाली खूबसूरती, अच्छे प़र्यावरण और शांति के कारण ज्यादा से ज्यादा व्यक्ति भोपाल में बसना चाहते हैं, लेकिन पिछले 25 वर्षों में मास्टर प्लान नहीं आने के कारण भोपाल शहर का व्यवस्थित विकास नहीं हो सका । आज मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी की सूझ बुझ दूरदृष्टि एवं साहसिक निर्णय लेने की क्षमता के कारण भोपाल के मास्टर प्लान लाने का प्रारूप प्रकाशित हुआ । कॉम्पिस्ट के सभी संस्थापक सदस्यों द्वारा सराहा गया क्योंकि उनके मास्टर प्लान की समझ को देखते हुए लगता है कि अब भोपाल की आबादी 2 गुना भी हो जाए तो भोपाल में रहने में और सुविधा बढ़ेगी । सड़कें चौड़ी होगी, नवीन फ्लायओवर बनेगें, कॉलोनीयाँ सुव्यस्थित होगी एवं ट्रैफिक की समस्या भी कम होगी, बिजली, पानी, ड्रेनेज व्यवस्थित रूप से मिलेगा, इसी कारण कॉम्पिस्ट ने एक आज अति आवश्यक मीटिंग बैठक बुलाई, जिसमें सभी संस्थापक सदस्यों ने एक साथ मिलकर माननीय मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी एवं शहरी विकास मंत्री श्री जयवर्धन सिंह जी की सराहना की तथा उनकी दूरगामी सोच को भोपाल के विकास के लिए महत्वपूर्ण कदम बताते हुए मध्यप्रदेश सरकार के इस निर्णय पर पूरी सरकार को बधाई दी ।
इस अवसर पर कॉम्पिस्ट के मुख्य संरक्षक दिग्विजय सिंह एवं अध्यक्ष गोविंद गोयल एवं सचिव संजय बुलचंदानी एवं मुख्य सलाहकार प्रताप वर्मा एवं उपाध्यक्ष अजय अग्रवाल, एस कृष्णन और कोषाध्यक्ष तेजकुल पाल सिंह पाली, सुनील जैन 501, नितिन अग्रवाल, राजेश गोयंका, अशोक नंदा, दिनेश कुमार जैन, सुधीर गर्ग, सुनील महेश्वरी, अशोक पालोड, रोहित जैन, डालचन्द चौहान, मों युसुफ, अमित शर्मा, गोपाल मनवानी, संतोष सरार्फ, तेजासिंह मूलचंदानि, आकाश गोयल, वैक्टेश गोयल, मौजूद थे ।

हम कांग्रेस की सरकार को मजबूर कर देंगे कि जनता से वादे पूरे करेः उमा भारती
25 February 2020
भोपाल। कांग्रेस ने जो वादे प्रदेश की जनता से किए थे, वह उसकी सरकार ने पूरे नहीं किए। जिसके कारण लोग अपने को ठगा और छला हुआ महसूस कर रहे हैं। प्रदेश की जनता के साथ छलावा हुआ है। प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बदतर हो चुकी है, थाने के बाजू में ही मर्डर हो रहे हैं। इससे बुरी हालत प्रदेश की और क्या हो सकती है। हमने लंबे समय तक बिना सत्ता में रहे जनता के हितों के लिये संघर्ष किया है, काम किए, लड़ाईयां लड़ीं, मकसद हासिल किए, लक्ष्य प्राप्त किए हैं। हमने विपक्ष में रहते हुए भी जनता के हित के लिए फैसले करवाए हैं। हम आज सत्ता में नहीं हैं, लेकिन प्रदेश की कांग्रेस सरकार को इस बात के लिए मजबूर कर देंगे कि वह जनता से किए गए वादों को पूरा करे। यह बात पूर्व मुख्यमंत्री एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुश्री उमा भारती ने मंगलवार को मीडिया से चर्चा करते हुए कही। सुश्री उमा भारती ने इस अवसर पर नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णुदत्त शर्मा का तिलक लगाकर अभिनंदन किया।
संगठन को सत्ता से ऊपर मानती है हमारी पार्टी
सुश्री उमा भारती ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष संगठन और सरकार दोनों का नेता होता है। अध्यक्ष की भूमिका में सभी नेतृत्व निहित होते हैं, चाहे वह सरकार का नेतृत्व हो या संगठन का नेतृत्व हो। नेतृत्व के पीछे कोई एक भाव निहित नहीं होता, उसके पीछे संपूर्ण भाव निहित होते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी संगठन को सत्ता से ऊपर मानती है। भारत में मध्यप्रदेश को संगठन का राज्य माना गया है, क्योंकि यहां संगठन ने ही राज किया है और सारे फैसले संगठन ने ही लिए हैं। यहां के कार्यकर्ताओं की क्षमता बहुत बड़ी है। कुशाभाऊ ठाकरे, राजमाता विजयराजे सिंधिया जैसे नेताओं की तपस्या के कारण यह स्थिति बनी है। उन्होंने कहा कि अब ऐसा व्यक्ति प्रदेश अध्यक्ष बना है, जो उन्हीं नेताओं की परंपरा की सुगंध और शौर्य अपने में समेटे हुए है।
नई ऊंचाइयों पर पहुंचेगी पार्टी
सुश्री उमा भारती ने कहा कि कमलनाथ सरकार द्वारा जनता से किए गए वादे पूरे कराना हमारे लिये एक चुनौती है। उन्होंने कहा कि इस दृष्टि से प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णुदत्त शर्मा सक्षम नेता हैं। वह एक कुशल संगठक और प्रचंड जनाधार वाले नेता हैं। उनकी पृष्ठभूमि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की रही है, जिसमें संघर्षों व आंदोलनों की ही भूमिका होती है। उन्होंने कहा कि मैं प्रदेश अध्यक्ष और भारतीय जनता पार्टी को शुभकामनाएं देने आई हॅू कि पार्टी को एक कुशल और क्षमतावान नेता मिला है, जिनकी सहजता और सादगी में बनावट नहीं है, वह स्वाभाविक हैं। सुश्री उमा भारती ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष श्री शर्मा अपने शौर्य, बुद्धि, विवेक, संगठन क्षमता सभी का करेंगे जिससे हमारा मध्यप्रदेश पुनः उसी सौपान को प्राप्त करेगा। हमारी पार्टी नई ऊंचाइयों को हासिल करेगी।

कमलनाथ का बयान राजनीतिक, हर कदम पर
मध्यप्रदेश के साथ खड़ी है केंद्र सरकार: जयंत सिन्हा

24 February 2020
भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मध्यप्रदेश को केंद्र से मिलने वाली राशि में 14500 करोड़ की कटौती के संबंध में जो बयान दिया है, वो पूरी तरह राजनीतिक है। उसका वास्तविकता से कुछ भी लेना-देना नहीं है। वास्तव में मध्यप्रदेश सरकार केंद्र की योजनाओं के पैसे का न तो उपयोग कर रही है, न ही उपयोगिता प्रमाण पत्र दे रही है। केंद्र की कोई भी योजना हो, उसका पैसा ऑन डिमांड उपलब्ध है, लेकिन मध्यप्रदेश की सरकार योजनाओं का काम ही आगे नहीं बढ़ा रही है। यह बात पूर्व वित्त राज्य मंत्री श्री जयंत सिन्हा ने रविवार को मीडिया से चर्चा के दौरान कही। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार हर कदम पर मध्यप्रदेश के लोगों के साथ खड़ी है और मौजूदा बजट में भी प्रदेश के किसानों के लिये, सिंचाई सुविधाओं के लिये, नेशनल हाइवे और एयरपोर्ट के विकास के लिये अनेकों प्रावधान किये गए हैं। मोदी सरकार ने प्रस्तुत किया जन-जन का बजट
पूर्व वित्त राज्यमंत्री श्री जयंत सिन्हा ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने जो बजट प्रस्तुत किया है, वह प्रशंसनीय है। इस बजट में देश के, समाज के हर वर्ग को लाभ मिल रहा है, इसलिए यह जन-जन का बजट है। उन्होंने कहा कि समाज के गरीब तबके को पक्का घर देने के बाद केंद्र सरकार ने अब हर नल में जल पहुंचाने की व्यवस्था की है, तो गृहिणियों को महंगाई से राहत देने, कुकिंग गैस उपलब्ध कराने और उनके खाते खोलने की व्यवस्था की गई है। उद्योगपतियों को कार्पोरेट टैक्स का फायदा है, तो मध्यम वर्ग को आयकर में राहत मिली है। युवाओं के लिये स्वरोजगार और स्किल डेवलपमेंट के प्रावधान हैं, तो इस बजट के माध्यम से निवेशकों की भी मदद की गई है। श्री सिन्हा ने कहा कि इस बजट में हर वर्ग के लिये योजनाएं हैं और भारतीय जनता पार्टी का प्रयास है कि इन योजनाओं की जानकारी समाज के हर वर्ग तक पहुंचाई जाए। उन्होंने कहा कि इसी के संबंध में आज पार्टी की प्रदेश स्तरीय कार्यशाला आयोजित की गई थी।
अर्थव्यवस्था के विकास का रोड मैप है बजट
श्री सिन्हा ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने देश की अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य तय किया है और हम उसी तरफ बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा प्रस्तुत बजट इसी लक्ष्य को हासिल करने का पॉलिसी रोड मैप है। श्री सिन्हा ने कहा कि बजट 2020-21 में उपभोग, निवेश और स्टार्टअप्स को प्रोत्साहन दिया गया है। इसका लाभ तो सभी को मिलेगा ही, यह अर्थव्यवस्था के विकास और विस्तार को भी गति देगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने अर्थव्यवस्था के विकास को गति देने के लिये बजट में जो प्रावधान किए हैं, उससे हमारी विकास दर तेजी से बढ़ेगी और जल्द ही उसके 7.5 प्रतिशत पर पहुंच जाने की आशा है। श्री सिन्हा ने कहा कि हमारी केंद्र सरकार ने राजकोषीय घाटे को नियंत्रण में रखने के सफल उपाय किए हैं।

लोगों को बताएं आर्थिक सुस्ती अब बीते जमाने की बात : जयंत सिन्हा
बजट का वाहक बनकर जनता तक पहुंचे हर कार्यकर्ता : विष्णुदत्त शर्मा

24 February 2020
भोपाल। जो लोग अर्थव्यवस्था में गिरावट, आर्थिक सुस्ती की बात करते हैं, वे पीछे की तरफ देखकर गाड़ी चला रहे हैं। लोगों को बताएं कि ये सब अब बीते जमाने की बातें हो गई हैं। इसके लिये जो कारण जिम्मेदार थे, वे अब खत्म हो गए हैं और बजट में प्रधानमंत्री श्री मोदी जी की सरकार ने जो प्रावधान किये हैं, वे हमारी अर्थव्यवस्था के विकास को गति देने वाले हैं। सारे संकेत और दुनिया की सारी एजेंसियां एक ही बात कह रही हैं कि हमारी अर्थव्यवस्था अब सिर्फ सुधार की तरफ, समृद्धि की तरफ जाने वाली है। यह बात पूर्व वित्त राज्यमंत्री एवं सांसद श्री जयंत सिन्हा ने बजट 2020-2021 के संबंध में आयोजित कार्यशाला को मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित करते हुए कही। कार्यशाला को प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा ने भी संबोधित किया।
70 सालों में जो नहीं किया, 70 महीनों में कर दिखाया
श्री जयंत सिन्हा ने कार्यशाला में उपस्थित प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कहा केंद्र की मोदी सरकार ने पिछले पांच सालों के अपने कार्यकाल में ऐतिहासिक काम किए हैं। सरकार ने गरीबों को सामाजिक सुरक्षा के रूप में कवच उपलब्ध कराया। उन्हें आजीविका, आवास, स्वास्थ्य, पक्का घर, सड़क, गैस सिलेंडर, शौचालय आदि उपलब्ध कराए। सरकार ने जीएसटी का सरलीकरण करके वन नेशन वन टैक्स की अवधारणा को साकार किया। नोटबंदी के द्वारा सरकार ने कालाधन रखने वालों को चिह्नित करने का काम किया है और बैंक से लोन लेकर भाग जाने वालों पर लगाम लगाई है। इन्फ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में हाईवे, ब्रिज, बंदरगाहों का विकास किया है। देश में पहले सिर्फ 70 एयरपोर्ट थे, जिन्हें बढ़ाकर 105 तक पहुंचा दिया गया है। उन्होंने कहा कि देश में जो काम पिछले 70 सालों में नहीं हुआ था, वो काम प्रधानमंत्री श्री मोदी की सरकार ने अपने 70 महीनों के कार्यकाल में कर दिखाया है। उन्होंने कहा कि हाल ही में प्रस्तुत बजट में इन्हीं कामों को आगे ले जाने का प्रावधान है।
अर्थव्यवस्था में सुस्ती के कारण अब समाप्त
श्री सिन्हा ने कहा कि विपक्ष के ये आरोप कि देश की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है, सही नहीं हैं। देश की अर्थव्यवस्था सुधार पर है और बजट में जो प्रावधान किये गए हैं, उनसे हमारी अर्थव्यवस्था फिर से 7.5 प्रतिशत की विकास दर की तरफ बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था में जो अस्थायी सुस्ती देखने को मिल रही थी, उसके दो कारण थे। पहला कारण था अमेरिका और चीन का ट्रेड वार, जिसके कारण पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था में गिरावट आई थी। लेकिन अब अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड समझौता हो गया है। दूसरा कारण था क्रेडिट शॉक। इसके कारण बैंकों ने लोन देने से हाथ खींच लिए थे। लेकिन हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और पूर्व वित्त मंत्री स्व. अरुण जेटली जी ने बड़ी कुशलता से इस स्थिति को संभाला और अब यह समस्या भी खत्म हो गई है। उन्होंने कहा कि अब रिजर्व बैंक से लेकर दुनिया की सभी एजेंसियां यही कह रही हैं कि आने वाले समय में देश की अर्थव्यवस्था में सिर्फ सुधार ही होना है। हर वर्ग को मिलेगा बजट 2020-2021 का लाभ
श्री सिन्हा ने कहा कि केंद्र सरकार ने मौजूदा बजट में समाज के हर वर्ग के लिये प्रावधान किए हैं और हर वर्ग को इसका लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि बजट में गरीबों के लिये पहले की योजनाएं तो चालू रखी ही गई हैं, ग्रामीण या शहरी क्षेत्र में हर किसी को पक्का घर उपलब्ध कराने की योजना बनाई गई है। इसके अलावा जलजीवन मिशन के अंतर्गत हर नल में जल पहुंचाने की योजना बनाई गई है, जिस पर पांच सालों में 3 लाख करोड़ खर्च किए जाएंगे। इसके अलावा सरकार ने आयुष्मान भारत योजना के लिए भी राशि बढ़ाई है। उन्होंने कहा कि किसानों की आय दोगुनी करने के लिये सरकार 16 सूत्रीय कार्ययोजना पर काम कर रही है। किसान सम्मान निधि के लिये 75000 करोड़ का प्रावधान किया गया है, जो पहले 54000 करोड़ था। उर्वरक सब्सिडी कायम रखी गई है तथा जैविक कृषि पर ध्यान दिया जा रहा है। सरकार ने अन्नदाता को ऊर्जादाता बनाने के लिये अभियान शुरू किया है और हर खेत तक पानी पहुंचाने की योजना भी शुरू की है। सरकार का ध्यान युवाओं को हुनर सिखाकर उन्हें रोजगार उपलब्ध कराना है और सरकार ने नेशनल स्किल मिशन के लिये राशि बढ़ाई है। सरकार ने उन कंपनियों को टैक्स में छूट देने का भी प्रावधान किया है, जो रोजगारों का सृजन करती हैं। उद्योगों को बढ़ावा देने के लिये सरकार ने कार्पोरेट टैक्स में कमी की है, इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिये 105 लाख करोड़ का प्रावधान किया है, देश में 100 नए एयरपोर्ट बनाए जा रहे हैं। ये सभी चीजें उद्योगों को बढ़ावा देने वाली हैं।

बजट में जताई सबका साथ, सबका विकास, सबके विश्वास के लिये प्रतिबद्धता: शर्मा
कार्यशाला को संबोधित करते हुए भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी जी ने बजट 2020-21 के माध्यम से समाज के सर्वांगीण विकास की चिंता की है, उन्होंने गरीबों के कल्याण के लिये प्रावधान किये हैं। प्रधानमंत्री श्री मोदी जी ने हमारे देश को 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य तय किया है। श्री शर्मा ने कहा कि कृषि हमारी अर्थव्यवस्था की रीढ़ है और हमारी सरकार ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने का लक्ष्य तय किया है। शिक्षा और स्वास्थ्य जैसे मूलभूत मुद्दों की चिंता हमारी सरकार ने की है और केंद्रीय बजट में स्वास्थ्य के लिये 96000 करोड़ तथा शिक्षा के लिये 99300 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है। हमारी सरकार ने बजट में मध्यप्रदेश के विकास और यहां पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये भी प्रावधान किये हैं। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा प्रस्तुत बजट उम्मीदों भरा बजट है और प्रधानमंत्री श्री मोदी की सरकार ने सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास का जो मंत्र दिया है, उसके प्रति भी बजट में प्रतिबद्धता जताई है।
रेत, शराब और तबादला उद्योग से पैसा कमाना चाहती है कमलनाथ सरकार
श्री शर्मा ने कहा कि प्रदेश की कमलनाथ सरकार प्रदेश की जनता से छल किया है। किसानों से कर्जमाफी का छल और युवाओं से बेरोजगारी भत्ते का छल किया है। हर काम के लिये सरकार पैसों की कमी का रोना रोने लगती है, जबकि आईफा अवार्ड जैसे खर्चीले आयोजनों के लिये इस सरकार के पास पैसा है। श्री शर्मा ने कहा कि अभी-अभी पता चला है कि कमलनाथ सरकार शराब ऑनलाइन भी उपलब्ध कराने जा रही है। उन्होंने कहा कि इस सरकार को प्रदेश की जनता के हितों की चिंता नहीं है। इस सरकार को कैसे भी बस पैसा कमाने की चिंता है और पैसा चाहे शराब से मिले, रेत के अवैध खनन से मिले या तबादला उद्योग से मिले, यह सरकार कुछ भी करने को तैयार है। श्री शर्मा ने कहा कि मध्यप्रदेश में नर्मदा यात्रा के समय हमारी सरकार के मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान ने कहा था कि चाहे कितना भी नुकसान हो जाए, हम नर्मदा के किनारे शराब नहीं बिकने देंगे और उस पर अमल भी किया। हमारी सरकार धीरे-धीरे शराब की दुकानें कम करके शराबबंदी की तरफ बढ़ रही थी। लेकिन कमलनाथ सरकार सिर्फ पैसे कमाने के लिये गली-गली शराब की दुकानें खोलने पर आमादा है।
मंच पर प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत, प्रदेश उपाध्यक्ष श्री विजेश लूणावत, किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री रणवीर सिंह रावत, व्यावसायिक प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक श्री विकास बोंद्रिया, श्री योगेश मेहता, श्री सुप्रभात चैकसे उपस्थित थे। कार्यशाला का संचालन श्री विजेश लूणावत ने किया एवं आभार प्रदर्शन श्री रणवीर सिंह रावत ने किया।

माता पिता का आशीर्वाद लेकर नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष ने किया पदभार ग्रहण
भोपाल में हजारों कार्यकर्ताओं ने हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर की अगवानी
प्रदेश अध्यक्ष ने महापुरूषों की प्रतिमा पर किया माल्यार्पण

19 February 2020
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णुदत्त शर्मा ने सोमवार को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं और प्रदेश भर से आए हजारों कार्यकर्ताओं की मौजूदगी में भारतीय जनता पार्टी, प्रदेश कार्यालय पं. दीनदयाल परिसर में पदभार ग्रहण किया। इसके पूर्व श्री वीडी शर्मा ने ग्वालियर में अपने माता पिता का आशीर्वाद लिया। तत्पश्चात पदभार के लिए भोपाल रवाना हुए।
श्री विष्णुदत्त शर्मा ने सोमवार को प्रातः ग्वालियर में अपने माता पिता का आशीर्वाद लिया और शताब्दी एक्सप्रेस से भोपाल रवाना हुए। यात्रा मार्ग में रेलवे स्टेशन पर बडी संख्या में कार्यकर्ताओं ने भाजपा जिंदाबाद के नारे लगाते हुए जोश से लबरेज होकर नवनियुक्त अध्यक्ष का स्वागत किया। भोपाल प्रदेश कार्यालय में प्रातः से ही स्वागत को लेकर कार्यकर्ताओं का आना शुरू हो चुका था। दोपहर हबीबगंज स्टेशन पर हजारों कार्यकर्ताओं ने श्री विष्णुदत्त शर्मा का स्वागत कर अगवानी की। यहां से प्रदेश अध्यक्ष पार्टी नेताओं के साथ रैली के रूप में प्रदेश कार्यालय के लिए रवाना हुए।
महापुरूषों के प्रतिमाओं पर किया माल्यार्पण
हबीबगंज से रैली प्रदेश कार्यालय के समीप स्थित डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी प्रतिमा स्थल पर पहुंची। यहां पर पूर्व मुख्यमंत्री एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री शिवराजसिंह चौहान ने नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष का स्वागत किया। तत्पश्चात नेताद्वय ने डॉ. श्यामप्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। यहां से रैली के रूप में प्रदेश अध्यक्ष कार्यकर्ताओं के साथ बोर्ड आफिस चौराहा पहुंचकर श्री विष्णुदत्त शर्मा ने डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। यहां से रैली के रूप में प्रदेश अध्यक्ष 6 एवं 7 नंबर होते हुए भाजपा प्रदेश कार्यालय पहुंचे। रैली मार्ग में कार्यकर्ताओं ने जगह जगह मंच बनाकर प्रदेश अध्यक्ष का गर्मजोशी से स्वागत किया। प्रदेश कार्यालय पहुंचने पर निवृत्तमान प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व सांसद श्री प्रभात झा, केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्रसिंह तोमर, श्री थावरचन्द्र गेहलोत, श्री फग्गनसिंह कुलस्ते, नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव, सासंद डॉ. सत्यनारायण जटिया, वरिष्ठ नेता श्री कप्तानसिंह सोलंकी, प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत, विधानसभा में मुख्य सचेतक डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष श्री शर्मा का स्वागत किया। सभी नेताओं के साथ श्री वीडी शर्मा ने प्रदेश कार्यालय स्थित पं. दीनदयाल जी, कुशाभाउ ठाकरे, राजमाता जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।
प्रदेश अध्यक्ष कक्ष में पूजन कर किया पदभार ग्रहण
नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष श्री वीडी शर्मा ने कार्यालय स्थित प्रदेश अध्यक्ष कक्ष में पूजा कर श्री शिवराजसिंह चौहान, श्री नरेन्द्रसिंह तोमर, श्री राकेश सिंह, श्री कप्तानसिंह सोलंकी, श्री सुहास भगत सहित पार्टी नेताओं की उपस्थिति में पदभार ग्रहण किया। तत्पश्चात कार्यक्रम में वरिष्ठ नेताओं के साथ सम्मिलित हुए।

नवनियुक्त अध्यक्ष के पदभार ग्रहण समारोह में वरिष्ठ नेताओं ने कहा -
सभी का संपूर्ण सहयोग मिलेगा विष्णुदत्त शर्मा को
कांग्रेस सरकार को भाजपा की ताकत का अहसास जरूर होगा : वीडी शर्मा

19 February 2020
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णुदत्त शर्मा ने सोमवार को आनंद और उत्साह से भरे वातावरण में निवृत्तमान प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह से पदभार ग्रहण किया। इस अवसर पर प्रदेश कार्यालय पं. दीनदयाल परिसर में जमकर जश्न मना। कार्यकर्ताओं के जोश से भरे नारों, पटाखों के शोर और ढोल-ढमाकों से समूचा परिसर गूंज उठा। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से लेकर सामान्य कार्यकर्ता तक नए अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा का स्वागत करते दिखाई दे रहे थे। चाहे मंच पर आसीन वरिष्ठ नेतागण हों, या कार्यक्रम में उपस्थित हजारों कार्यकर्ता, हर ओर से बस एक ही आवाज उठ रही थी-वीडी शर्मा जी आगे बढ़ो, सब तुम्हारे साथ हैं। इस अवसर पर आयोजित समारोह में निवृत्तमान प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान, केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्रसिंह तोमर, श्री थावरचन्द्र गेहलोत, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व सांसद श्री प्रभात झा, श्री फग्गनसिंह कुलस्ते, नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव, सासंद डॉ. सत्यनारायण जटिया, वरिष्ठ नेता श्री कप्तानसिंह सोलंकी, प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत, विधानसभा में मुख्य सचेतक डॉ. नरोत्तम मिश्रा उपस्थित थे। मंच का संचालन प्रदेश उपाध्यक्ष श्रीमती रंजना बघेल ने किया।
पूरा नेतृत्व और कार्यकर्ता आपके साथः राकेश सिंह
नए प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा के पदभारग्रहण समारोह में संबोधित करते हुए निवृत्तमान अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह ने नए अध्यक्ष श्री शर्मा का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि यह भारतीय जनता पार्टी के आंतरिक लोकतंत्र की ही शक्ति है कि हम अपने चुनाव को भी संगठन पर्व के रूप में मनाते हैं, पूरे हर्ष और उल्लास से। उन्होंने कहा कि मैंने 18 अप्रैल, 2018 को प्रदेश अध्यक्ष का पद संभाला था। हमने सामूहिकता के साथ विधानसभा का चुनाव लड़ा, जिसमें हमारा वोट प्रतिशत तो बढ़ा, लेकिन सीटें कम रहीं और हम सरकार नहीं बना सके। लेकिन बिना निराश हुए अपने नेताओं के मार्गदर्शन में हमने लोकसभा चुनाव में चक्रवृद्धि ब्याज समेत 29 में से 28 सीटें हासिल कीं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार हमारे कार्यकर्ताओं को प्रताड़ित कर रही है, हमारी सरकार की चलाई योजनाएं बंद कर दी हैं, प्रदेश की जनता निराश है। सरकार की इस मनमानी का हमने मुंहतोड़ जवाब दिया और एक साल में 18 आंदोलन करके यह बता दिया कि हमारी ताकत कम नहीं हुई है। श्री सिंह ने कहा कि मैं नए अध्यक्ष श्री वी.डी.शर्मा का स्वागत करता हूं और यह विश्वास दिलाता हूं कि आप आगे बढ़िये, हम सब आपके साथ हैं। श्री राकेश सिंह ने कहा कि मैं पार्टी के सभी वरिष्ठ नेताओं और टीम के साथियों के प्रति आभार जताता हूं, जो हर कदम पर मेरे साथ खड़े रहे।
हर परिवर्तन का स्वागत भाजपा की परंपराः प्रभात झा
पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं सांसद श्री प्रभात झा ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि नए पार्टी अध्यक्ष का पदभारग्रहण कोई नया अवसर नहीं है, यह भाजपा की परंपरा है। उन्होंने कहा कि हर नए परिवर्तन का स्वागत करना भारतीय जनता पार्टी की परंपरा रही है और पार्टी का जो भी निर्णय होता है, सब उसके पीछे खड़े हो जाते हैं। श्री झा ने कहा कि नए अध्यक्ष श्री विष्णुदत्त जी के सामने चुनौतियां हैं, लेकिन मैं आश्वस्त हूं कि उन्हें सफल होना ही है, क्योंकि पार्टी के सारे कार्यकर्ता आपके साथ चलने को तैया
र हैं। उन्होंने कहा कि नए अध्यक्ष श्री शर्मा को हम सभी का सहयोग मिलेगा और हम सब हर चुनौती के समय आपके साथ हैं। नेतृत्व जिसे जो दायित्व दे, सब उसी के साथ होते हैं : थावरचंद गहलोत समारोह को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री एवं वरिष्ठ नेता श्री थावरचंद गहलोत ने नए प्रदेश अध्यक्ष श्री शर्मा का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी सबसे बड़ी लोकतांत्रिक पार्टी है और आज का यह समारोह इसी का एक उदाहरण है। उन्होंने कहा कि पार्टी में व्यवस्थाएं, दायित्व बदलते रहते हैं, लेकिन पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व जिसे जो दायित्व दे दे, सभी लोग उसके साथ खड़े हो जाते हैं। श्री गहलोत ने कहा कि श्री विष्णुदत्त जी आगे बढ़ें, हम सब आपका सहयोग करेंगे और हम सब हर कदम पर आपके साथ हैं।
चुनौतियों का सामना नहीं, उन पर जीत हासिल करेंगे विष्णुदत्त जीः नरेंद्रसिंह तोमर
केंद्रीय मंत्री श्री नरेंद्रसिंह तोमर ने समारोह में संबोधित करते हुए कहा कि श्री विष्णुदत्त जी हमारे लिये नये नहीं हैं, छात्र जीवन से ही उन्होंने हमारे विचार के लिये पूरे समर्पण के साथ काम किया है। उन्होंने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और भाजपा में जो भी दायित्व सौंपा गया, उसका सफलतापूर्वक निर्वाह किया है। उन्होंने कहा कि पार्टी नेतृत्व ने उनकी क्षमताओं को देखते हुए प्रदेश अध्यक्ष पद की जो जिम्मेदारी सौंपी है, उसके लिये में शीर्ष नेतृत्व का आभार प्रकट करता हूं। श्री तोमर ने कहा कि एक विपक्षी दल के सामने कई तरह की चुनौतियां होती हैं, लेकिन विष्णुदत्त जी न सिर्फ उनका सामना करेंगे, बल्कि उन पर जीत भी हासिल करेंगे। मैं उन्हें विश्वास दिलाना चाहता हूं कि आप नेतृत्व कीजिए, हम आपके साथ खड़े हैं।
हम देश के लिये, अपने विचार के लिये काम करते हैंः शिवराजसिंह चौहान
समारोह को संबोधित करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यप्रणाली रिसर्च का विषय है। यहां कब, शांतिपूर्ण तरीके से दायित्व बदल जाते हैं, पता ही नहीं चलता। उन्होंने कहा कि ये भाजपा परिवार है। यहां पद आते-जाते रहते हैं, हम पद के लिये काम नहीं करते, अपने देश और विचार के लिये काम करते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी अलग परंपरा है और हमारा संगठन लाखों कार्यकर्ताओं के परिश्रम और त्याग से खड़ा हुआ है। श्री चौहान ने कहा कि विष्णुदत्त जी ऐसे संगठन के कार्यकर्ता हैं, उन्होंने पूरा प्रदेश घूमा है और पूरा जीवन संगठन को समर्पित कर दिया। वे संगठन शास्त्र के ज्ञाता हैं और मुझे विश्वास है कि उनके नेतृत्व में संगठन का काम अद्भुत तरीके से चलेगा। उन्होंने कहा कि दूसरी तरफ सत्ताधारी दल है, जिसमें नेतृत्व को लेकर खींचतान मची है, लट्ठमलट्ठ हो रही है। श्री चौहान ने कहा कि देश के महापुरुषों का अपमान करने वाली कांग्रेस की इस सरकार ने एक साल में प्रदेश को चौपट कर दिया है और अब चील-कौवों की तरह उसे नोंच-नोंच कर खा रही है। उन्होंने कहा कि आइये, विष्णुदत्त शर्मा जी के नेतृत्व में हम सब संकल्प लें कि जब तक कमलनाथ सरकार की भ्रष्टाचार की लंका को जलाकर राख नहीं कर देंगे, चैन से नहीं बैठेंगे।
विचारों पर प्रहार कर रही कमलनाथ सरकार का मिलकर सामना करें कार्यकर्ताः वीडी शर्मा
पार्टी के नवनियुक्त अध्यक्ष श्री विष्णुदत्त शर्मा ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि मैं उन सभी वरिष्ठ नेताओं, कार्यकर्ताओं का आभारी हूं, जिनसे मुझे मार्गदर्शन मिला और जिन्होंने मुझे इस पद तक पहुंचाने में मेरा सहयोग किया। इसके साथ ही में मेरे ऊपर विश्वास जताने के लिये केंद्रीय नेतृत्व का भी आभार प्रकट करता हूं। उन्होंने कहा कि मैं प्रदेश अध्यक्ष अवश्य बन गया हूं, लेकिन इसके अनुरूप बनने के लिये मुझे आपके सहयोग, आशीर्वाद और मार्गदर्शन की आवश्यकता है। उन्होंने मंचासीन वरिष्ठ नेताओं को संबोधित करते हुए कहा कि सब मिलकर प्रदेश में पार्टी का नेतृत्व करें और हम सभी कार्यकर्ता जमीन पर उतरकर हमारे विचारों पर प्रहार करने वाली कमलनाथ सरकार का सामना करें। उन्होंने कहा कि जब हम सब मिलकर सड़क पर उतरेंगे, तो झूठ और छल के सहारे बनी यह सरकार टिक नहीं पाएगी। श्री शर्मा ने कहा कि भाजपा एक सिस्टम, एक पद्धति पर काम करती है, जो वैज्ञानिक पद्धति है। इसलिए इस पद्धति पर चलने वाला संगठन कभी पीछे नहीं रह सकता। उन्होंने कहा कि पार्टी में पद बदलते रहते हैं, लेकिन इसके मूल में कार्यकर्ता ही है। उन्होंने कहा कि मैं यह विश्वास दिलाना चाहता हूं कि जो काम अमें हमारे पूर्व अध्यक्ष राकेश सिंह जी ने दिया है, वो काम एक इंच भी पीछे नहीं हटेगा।

कमलनाथ जी सपने दिखाने वाले नहीं सपने को सच करने वाले मुख्यमंत्री है,
अफसोस है कि जिन्होंने 15 वर्ष सिर्फ सपने दिखाये, वह आज
कांग्रेस सरकार पर झूठे आरोप लगा रहे हैं: नरेंद्र सलूजा

12 February 2020
मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने बताया कि प्रदेश में गहराते जल संकट, गिरते भूजल स्तर व जल संरक्षण को देखते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने प्रदेश में ‘‘राइट टू वाटर“ की परिकल्पना के साथ एक राष्ट्रीय जल सम्मेलन का आयोजन रखा।जिसमें देश के 25 राज्यों के विभिन्न जल व पर्यावरण विशेषज्ञ एवं समाजसेवी शामिल हुए।जिसमें भविष्य में जल संकट से निपटने के लिये, गिरते भूजल स्तर को देखते हुए व जल स्रोतों के संरक्षण के लिए कार्य योजना बनाने पर विस्तृत चर्चा हुई, जिसके सकारात्मक परिणाम भविष्य में देखने को मिलेंगे। इस राष्ट्रीय जल सम्मेलन में विभिन्न जल विशेषज्ञों ने अपने विचार रख, प्रदेश के मुख्यमंत्री के इन प्रयासों के लिए उनकी सराहना की व उनका अभिनंदन किया। बेहद अफसोस है कि ऐसे जनहित के कार्यों की सराहना की बजाय, भाजपा मुख्यमंत्री कमलनाथ जी को कोसने का काम कर रही है?
मुख्यमंत्री के इस सम्मेलन में कहे गए कथन कि ‘‘मेरा एक सपना है कि मध्यप्रदेश को ऐसा राज्य बनाऊं जो देश की पानी की जरूरतों को पूरा कर सके“ पर उन्हें कोसते हुए भाजपा कह रही है कि मुख्यमंत्री जी सपने नहीं दिखाये। जबकि हकीकत यह है कि मुख्यमंत्री कमलनाथ जी सपने दिखाते नहीं, सपने पूरे करते हैं, वही जिन्होंने 15 वर्ष सिर्फ झूठे सपने दिखाये वह आज इस तरह के आरोप लगा रहे हैं? जो लोग प्रदेश का जल संकट दूर करने की आज मांग कर रहे हैं, वह लोग प्रदेश में 15 वर्ष सत्ता में रहे। तब तो उन्होंने प्रदेश के जल संकट की कोई चिंता नहीं की, उसको लेकर कोई कार्ययोजना नहीं बनायी और वे आज डेढ़ वर्ष की कांग्रेस सरकार से जल संकट से निदान की मांग कर रहे हैं, बेहद आश्चर्यजनक है? वे यह सच भी स्वीकार कर रहे है कि प्रदेश में भरपूर प्राकृतिक संसाधन है लेकिन यदि पूर्व की भाजपा सरकार ने इस मामले में ठोस इच्छाशक्ति व कार्य योजना बनायी होती तो शायद आज प्रदेश को जल संकट के मामले में यह दिन देखने नहीं पड़ते। भाजपा सरकार में जल संकट से निपटने के लिए एक भी कार्य योजना नहीं बनायी गयी उलटा प्रदेश की नदियों को पूरे 15 वर्ष में अवैध उत्खनन द्वारा खोद दिया गया। जिसका परिणाम है आज हमारे 65 बांध, 165 रिजर्व वायर सूखे की चपेट में है, स्थानीय निकाय नागरिकों को 2 से 4 दिन में पानी उपलब्ध करवा पा रही है।
मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने इस जल सम्मेलन में कहा कि उनका सपना है कि हर व्यक्ति को शुद्ध जल उसके घर पर मिले। मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने तो स्वयं इस जल सम्मेलन में स्पष्ट किया कि 1982 में हुए पृथ्वी सम्मेलन में भी उन्होंने इस मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय मंच से उठाया था कि पर्यावरण, जंगल तभी तक सुरक्षित और जीवित है, जब तक हमारे पास पानी है। वर्तमान में प्रदेश की 72 प्रतिशत आबादी गांव की बसाहटांे में निवास करती है। मुख्यमंत्री जी की मंशा है भविष्य में प्रत्येक घर में नल के माध्यम से 55 लीटर प्रति व्यक्ति शुद्ध स्वच्छ जल पहुंचे।
मुख्यमंत्री कमलनाथ जी व सरकार जल संकट को लेकर गंभीर है इसीलिए इस तरह के प्रयास किए जा रहे हैं लेकिन भाजपा इस मुद्दे पर भी राजनीतिक बयान बाजी कर रही है, जो कि बेहद शर्मनाक है।

जिनके शासनकाल में शौचालय तक भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गये,
वो शिवराज सिंह सिखा रहे हैं कमलनाथ सरकार
को नैतिकता का पाठ: शोभा ओझा

10 February 2020
मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी मीडिया विभाग की अध्यक्षा श्रीमती शोभा ओझा ने आज जारी अपने वक्तव्य में बताया कि प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा अपने ट्वीट के जरिए यह कहा जाना कि ‘मध्यप्रदेश प्रशासन में अराजकता का माहौल है। व्यवस्थाएं ध्वस्त हैं, ऐसा लग रहा है कि जनता के हित, कांग्रेस के राजनैतिक हितों की बलि चढ़ जाएंगे।’ यह दरअसल शिवराज सिंह चौहान द्वारा अपने ही जंगलराज का विवरण देकर उसका वर्णन किया गया है, क्योंकि उनके पूरे कार्यकाल में व्यापमं, डंपर, अवैध खनन, सिंहस्थ, ई-टेंडरिंग, मध्यान्ह भोजन, पेंशन और पौधारोपण घोटाले तो हुए ही लगभग 540 करोड़ रुपये का स्वच्छ शौचालय घोटाला भी हुआ, जिसमे सरकार और अधिकारियों की मिलीभगत से 4 लाख 50 हजार शौचालयों को ही गायब कर दिया गया था।
आज जारी अपने वक्तव्य में श्रीमती ओझा ने आगे बताया कि शिवराज सिंह चौहान का पूरा कार्यकाल ही घपलों और घोटालों का ‘अंधकार-युग’ था, जिसमें मंत्री, सरकार और अधिकारी शिवराज सिंह के खुले संरक्षण के कारण बेखौफ होकर भ्रष्टाचार में लिप्त रहे।
श्रीमती ओझा ने अपने बयान में आगे कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि मध्यप्रदेश को खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) करने के झूठे दावों के साथ, पूरे-पूरे पृष्ठों के विज्ञापन, पिछली शिवराज सरकार ने समाचार-पत्रों में जारी किये थे, जिनकी पोल इस हालिया खुलासे के बाद खुल गई है कि प्रदेश में जितने शौचालयों के निर्माण की बात पिछली सरकार कह रही थी, उसमें से लगभग 540 करोड़ रुपये के 4.5 लाख शौचालय अस्तित्व में ही नहीं आये थे। इसका सीधा-सीधा अर्थ है कि प्रथम दृष्टया ही यदि लगभग 540 करोड़ रुपये का घोटाला सामने आया है तो यह निश्चित है कि विस्तृत जांच के बाद, यह आंकड़ा और बड़ा होगा। इस गंभीर खुलासे के बाद एक बात और पूरी तरह से स्पष्ट हो गई है कि शिवराज सिंह और मोदी जी के द्वारा खुले में शौच मुक्ति यानि ओडीएफ के दावे कितने खोखले थे।
अपने बयान के अंत में श्रीमती ओझा ने कहा कि वास्तविकता यह है कि जिस शिद्दत से कमलनाथ सरकार मध्यप्रदेश की जनता को दिए हुए अपने वचनों को पूरा करने में लगी है और प्रदेश के विकास का एक नया स्वर्णिम युग प्रारंभ कर चुकी है, उससे शिवराज सिंह सहित पूरी भाजपा बौखला गई है और अपनी इसी बौखलाहट के चलते वह कमलनाथ सरकार को घेरने की असफल कोशिशें कर रही है लेकिन कांग्रेस सरकार द्वारा प्रदेश की जनता के लिए किसान कर्जमाफी, बिजली बिलों में कटौती, कन्या विवाह की राशि बढ़ाई जाने जैसी अनेकों कल्याणकारी योजनाओं के साथ ही माफियाओं पर की गई असरकारी और अभूतपूर्व कार्यवाही से लाभान्वित प्रदेश की जनता अब भाजपा के किसी झांसे में आने वाली नहीं है।

लगभग 4000 करोड़ की नर्मदा कालीसिन्ध लिंक परियोजना से देवास जिले के लाखों लोग होंगे लाभान्वित, एक एक घर में पाइपलाइन द्वारा पानी पहुचाने की योजना स्वीकृत कराई – सज्जन सिंह वर्मा
7 January 2020
भोपाल. मध्यप्रदेश के लोकनिर्माण एवं पर्यावरण मंत्री श्री सज्जन सिंह वर्मा ने आज देवास जिले के गंधर्वपुरी में आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में शामिल हुवे साथ ही भौरासा में विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण किया| इस अवसर पर श्री वर्मा ने कहा की हमने 4000 करोड़ की लागत वाली नर्मदा कालीसिंध लिंक परियोजना को प्राथमिकता देकर स्वीकृत कराया, इस परियोजना से देवास जिले के एक एक घर में पाइपलाइन द्वारा पानी उपलब्ध कराना हमारा लक्ष्य है, साथ ही देवास के अन्नदाता सिंचाई के लिए आत्मनिर्भर होंगे, इस परियोजना से पुरे जिले में लाखों लोग लाभान्वित होंगे
श्री वर्मा ने इस अवसर पर उत्कृष्ट विधार्थियों का सम्मान भी किया, साथ ही टोंकखुर्द में रजिस्ट्रार कार्यालय का उद्घाटन किया और जमोड़ी में नवीन गौशाला बनाने के कार्य का भूमिपूजन किया| कार्यक्रमों मे स्थानीय पदाधिकारीगण, अधिकारीगण एवं बड़ी संख्या में स्थानीय नागरिक मौजूद रहे|

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के
आरोपों पर कांग्रेस का पलटवार
शांत मध्यप्रदेश में सीएए व एनआरसी के समर्थन में सभा करने क्यों आ
रहे हैं अमित शाह ? सभा के लिए जबलपुर का ही चुनाव क्यों ?
सरकार का अभियान सिर्फ माफियाओं के विरुद्ध, कहीं भी राजनीतिक आधार
पर कार्रवाई नहीं की जा रही है, कैलाश विजयवर्गीय के सारे आरोप झूठे, विजयवर्गीय बताये कि वो कौन से संवैधानिक पद पर है जो उन्होंने
अधिकारियों को चर्चा के लिये बुलाया और वे कौनसे जनहित के कार्य थे,
जिस पर वे चर्चा करना चाहतें थे, सार्वजनिक करें: नरेंद्र सलूजा
कांग्रेस ने विजयवर्गीय से पूछे सवाल, माँगा जवाब ?

3 January 2020
भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने आज इंदौर में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय द्वारा एनआरसी व सीएए को लेकर की गई पत्रकार वार्ता में कांग्रेस पर लगाए सारे आरोपों को झूठा बताते हुए कहा भाजपा इस कानून के माध्यम से देश का माहौल खराब करने में लगी है, समाज को बांटने में लगी है, मुद्दों से भटका कर जनता को गुमराह करने में लगी है।आज देश आर्थिक मंदी के दौर से गुजर रहा है, ऐसे समय वास्तविक मुद्दों को छोड़कर यह कानून लागू करने की जल्दबाजी क्यों? क्यों देश की जनता सड़कों पर आकर इस कानून को देश विरोधी बताकर अस्वीकार कर रही है? भाजपा को इसके समर्थन में क्यों प्रायोजित कार्यक्रम करना पड़ रहे है?
भाजपा बताये श्री अमित शाह इस कानून के समर्थन में शांत मध्यप्रदेश में क्यों आ रहे हैं और यह भी बताएं कि मध्य प्रदेश के एकमात्र जिले जबलपुर में जहां इस कानून को लेकर हुए प्रदर्शनों पर कर्फ्यू लगा था, जो कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष का संसदीय क्षेत्र है वहीं पर अमित शाह सभा करने क्यों आ रहे हैं?
सलूजा ने कहा माफियाओं के खिलाफ अभियान को लेकर कैलाश विजयवर्गीय द्वारा लगाये गये सारे आरोप झूठे हैं। यह अभियान विशुद्ध रूप से माफियाओं के खिलाफ चल रहा है, इसको राजनीतिक नजरिए वह चश्मे से बिल्कुल नहीं देखा जा रहा है।
कैलाश विजयवर्गीय मुख्यमंत्री कमलनाथ के उस बयान को एक बार दोबारा से सुन ले, जिसमें उन्होंने स्पष्ट रूप से निर्देशित किया है कि किसी भी माफिया को बख्शा नहीं जाए, चाहे वह किसी भी दल से जुड़ा हो, किसी भी बड़े राजनेता से जुड़ा हो, कितना भी बड़ा रसूखदार हो। साथ ही इस अभियान के तहत अभी तक जितने लोगों पर कार्यवाही हुई है, उस सूची का भी एक बार अध्ययन कर लें, उसी से उन्हें इस कार्रवाई की निष्पक्षता का पता चल जाएगा व कांग्रेस-भाजपा करना वो खुद बंद कर देंगे। कमलनाथ सरकार जीरो टाॅलरेंस की तरह इस अभियान को निष्पक्ष ढंग से चला रही है।
कैलाश विजयवर्गीय कह रहे हैं कि उनके पास कांग्रेस के 167 कार्यकर्ताओं की सूची है तो कांग्रेस उन्हें खुली चुनौती देती है कि वह इस सूची को सार्वजनिक करे।कांग्रेस ही नहीं भाजपा सहित शहर व प्रदेश के सभी माफियाओं की निष्पक्ष सूची यदि कैलाश विजयवर्गीय के पास है तो उन्हें खुद सामने आकर सार्वजनिक करना चाहिये और सरकार से उन पर कार्रवाई की मांग करना चाहिए क्योंकि माफियाओ का कोई दल-धर्म नहीं होता है। माफियाओ को दल से नहीं जोड़े विजयवर्गीय। भाजपा तो माफियाओ के खिलाफ कार्यवाही का स्वागत कर रही है, वो विजयवर्गीय के जाल में ना फँसे क्योंकि उनका दर्द सभी को पता है।
कैलाश विजयवर्गीय यह भी बताये कि वे अभी कौन से संवैधानिक पद पर है, जो उन्होंने अधिकारियों को चर्चा के लिये बुलावा भेजा और साथ ही यह भी बताये कि वो कौन से जनहित के कार्य थे, जिस पर वे आज ही चर्चा चाहते थे, यह भी वो सार्वजनिक करे?
कैलाश विजयवर्गीय के आरोपों पर कांग्रेस ने उनसे कुछ सवाल पूछ, उनका जवाब मांगा है ?
सवाल -
1. कैलाश विजयवर्गीय बताये युवराज उस्ताद से लेकर हेमंत यादव, जीतू यादव, मुन्ना डाॅक्टर, जीतू चैधरी किस के समर्थक हैं, किसके साथ खुलेआम होर्डिंग-पोस्टर व कार्यक्रमों में नजर आते हैं, वर्षों से इन्हें किस का संरक्षण रहा, क्या इनके कार्य है, क्या वह इन्हें भाजपा कार्यकर्ता मानते हैं, क्या इनके कार्यों को वे नियम के अंतर्गत मानते हैं, क्या इन्हें विजयवर्गीय का समर्थन प्राप्त है?
2. जिस माफिया मुक्त अभियान का प्रदेश की जनता खुलकर समर्थन कर रही है, विजयवर्गीय बताये कि इस अभियान को लेकर उनके पेट में दर्द क्यों हो रहा है, किस माफिया पर कार्यवाही से वह दुखी है, स्पष्ट करें?
3. विजयवर्गीय बताये प्रदेश में पिछले 15 वर्ष से उन्हीं की पार्टी भाजपा की सरकार थी।किसके संरक्षण में यह माफिया पनपे? इंदौर में तो विजयवर्गीय का पूरी तरह से बोलबाला था, सारे अधिकारियों की पोस्टिंग उनके अनुसार ही होती थी, क्या कारण रहा कि पिछले 15 वर्षों में इन माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई नहीं हो पायी, कौन इन्हें पोषित व संरक्षित करता रहा ?
4. कांग्रेस को माफियाओं की कभी आवश्यकता नहीं है और ना कभी कांग्रेस माफियाओं को अपनी पार्टी में लाने की कोशिश भी करेगी, यह आपको व आपकी पार्टी को ही मुबारक। विजयवर्गीय के पास उनके यह आरोप कि ‘‘भाजपा से जुड़े माफियाओं को कांग्रेस कार्यवाही के नाम पर डरा धमकाकर कांग्रेस में आने का कह रही है।“ के संबंध में कोई प्रमाण हो तो उसे वे शीघ्र सार्वजनिक करें, अन्यथा झूठे आरोप के लिए माफी मांगे।
5. विजयवर्गीय बताये कि किस माफिया पर हुई कार्यवाही को वे नियम विरुद्ध मान रहे है? क्या माफियाओ द्वारा किये गये काम नियम से किये हुए है?

प्रदेश कांगे्रस मुख्यालय में मनाया गया
‘कांग्रेस स्थापना दिवस’
पार्टी का ध्वज-वंदन कर कांगे्रसजनों ने दी सलामी

28 December 2019
भोपाल। भारतीय राष्ट्रीय कांगे्रस के 134 वें स्थापना दिवस पर आज प्रदेश कांगे्रस मुख्यालय के प्रांगण में प्रदेश कांगे्रस के उपाध्यक्ष एवं संगठन प्रभारी चंद्रप्रभाष शेखर ने कांगे्रस पार्टी का ध्वज वंदन किया, कांगे्रस सेवादल के अध्यक्ष श्री सत्येन्द्र यादव के नेतृत्व में उपस्थित सेवादल, कांगे्रसजनों एवं कार्यकर्ताओं ने ध्वज को सलामी दी, ध्वज गीत एवं राष्ट्रगान का गायन किया तथा कांगे्रस की रीति-नीति पर चलने की शपथ ली।
इस अवसर पर मध्यप्रदेश शासन के जनसंपर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने कांगे्रसजनों को बधाई एवं शुभकामनाएं प्रेषित कीं। कांगे्रसजनों ने परस्पर बधाई एवं शुभकामनाएं दी। कार्यक्रम के बाद मिष्ठान का वितरण किया गया।
कांगे्रस के राष्ट्रीय अध्यक्षों की चित्र प्रदर्शनी लगायी गई
अखिल भारतीय कांगे्रस के 134 वर्ष पूर्ण होने पर कांगे्रस स्थापना दिवस पर प्रदेश कांगे्रस मुख्यालय में 1885 से लेकर वर्तमान समय तक के कांगे्रस के राष्ट्रीय अध्यक्षों के चित्रों की प्रदर्शनी लगायी गई, जिसमें सभी अध्यक्षों के बारे में जानकारी भी मुद्रित थी। प्रदर्शनी का उद्घाटन जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी.शर्मा एवं प्रदेश कांग्रेस के कोषाध्यक्ष श्री गोविंद गोयल ने किया। उक्त प्रदर्शनी का निर्माण इलेक्शन सिण्डिकेट के अध्यक्ष एवं वरिष्ठ कांगे्रस नेता पंडित राजदत्त शर्मा द्वारा किया गया। बड़ी संख्या में कांगे्रसजनों ने प्रदर्शनी में पहुंचकर कांगे्रस के राष्ट्रीय अध्यक्षों की जानकारी संग्रहित की।
कांगे्रस स्थापना दिवस के अवसर पर प्रदेश कांगे्रस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष रामेश्वर नीखरा, प्रकाश जैन, राजमणी पटेल, अभा कांगे्रस सेवादल के चंद्रप्रकाश वाजपेयी, माण्डवी चैहान, राजकुमार पटेल, मो. सलीम, डाॅ. महेन्द्र सिंह चैहान, विधायक कुणाल चैधरी, शहर एवं जिला कांगे्रस कमेटी के अध्यक्षद्वय कैलाश मिश्रा, अरूण श्रीवास्तव, दीपचंद यादव, अजीता वाजपेयी पांडे, विजय सिरवैया, प्रवक्ता रवि सक्सेना, जे.पी. धनोपिया, विभा पटेल, दुर्गेश शर्मा, योगेन्द्र सिंह परिहार, अजयसिंह यादव, त्रिलोक दीपानी, शाहवर आलम, जोधाराम गुर्जर, पवन पटेल, डाॅ. ज्योत्सना खरे, हरद्वारीलाल शर्मा, डाॅ. नेहा सिसोदिया, मुईनउद्दीन सिद्धीकी, निहाल अहमद, गन्नू तिवारी, नूर बेग, आरती भगोरिया, रविशंकर पांडे, रामराज तिवारी, शेरसिंह और बाल सेवादल के कार्यकर्ताओं सहित बड़ी संख्या में महिलाएं एवं कांगे्रसजन उपस्थित थे।

नेता प्रतिपक्ष भार्गव द्वारा राज्य मंत्रालय को दलालों का अड्डा बताने व
मंत्रियों के बंगले को कोठा बताने वाला बयान बेहद शर्मनाक,
निम्नस्तरीय व मानसिक दिवालियेपन का प्रतीक
उनका यह बयान वहां अपनी समस्याओं को लेकर प्रतिदिन आने-जाने वाले गरीब वर्ग, आमजन, अधिकारी-कर्मचारी गण जनप्रतिनिधियों का व मीडिया का भी अपमान, इसके लिए वे अविलंब माफी मांगें: नरेन्द्र सलूजा

20 December 2019
भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने आज नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव द्वारा राज्य मंत्रालय को दलालों का अड्डा बताये जाने व मंत्रियों के बंगलों को कोठा बताये जाने वाले बयान को बेहद आपत्तिजनक, निम्न स्तरीय व शर्मनाक बताते हुए कहा कि श्री भार्गव ने ऐसा बयान देकर मंत्रालय में प्रतिदिन अपनी समस्याओं को लेकर व अपने कार्यों को लेकर आने-जाने वाले गरीब वर्ग, आमजन, वहां बैठने वाले अधिकारी-कर्मचारी गण, वहां आने-जाने वाले सभी राजनीतिक दलों के जनप्रतिनिधियों और मीडिया के लोगों का भी अपमान किया है। साथ ही मंत्रियों के बंगलों को कोठा बताकर उन्होंने अपने मानसिक दिवालियापन का सबूत दिया है।
मंत्रियों के बंगले जहां पर उनका परिवार निवास करता है। जहां प्रतिदिन प्रदेश का आमजन अपनी समस्याओं व कार्यों को लेकर जाता है, उसे कोठा बताकर उन्होंने अपनी सोच को उजागर किया है, इसके लिए उन्हें अविलंब माफी मांगनी चाहिए।
सलूजा ने बताया कि वहीं नेता प्रतिपक्ष से आपसी प्रतिस्पर्धा के कारण पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी मंत्रालय को दलालों का अड्डा बताया है। शायद भाजपा के नेतागण इसीलिए यह बात कह रहे हैं क्योंकि उनकी 15 वर्ष की सरकार में दलालों का पूरा बोलबाला रहा और सभी जानते हैं किस प्रकार दलाली प्रथा हावी रही एवं दलालों के माध्यम से ही सारे कार्य व निर्णय होते रहे।
सलूजा ने बताया कि पूरा प्रदेश जानता है 15 वर्ष की भाजपा सरकार में मंत्रियों की क्या कारगुजारियाँ रही, किस प्रकार उनकी अय्याशी व रंगरेलियां के मामले समय-समय पर सामने आते रहे है, इसी से समझा जा सकता है कि जो गोपाल भार्गव कह रहे हैं वह काम वास्तव में किसकी सरकार में हुआ करता था ?
जिस प्रकार से संजय जोशी से लेकर राघवजी, प्रदीप जोशी, लक्ष्मीकांत शर्मा व अन्य भाजपा नेताओं की करतूतें देश व प्रदेश के सामने आयी है, उससे समझा जा सकता है कि संस्कार व आदर्शों की बात करने वाले भाजपा नेताओं का आचरण व कृत्य कैसा रहा है और वे आरोप दूसरों पर लगा रहे |

इन्दौर और भोपाल की तर्ज पर सभी शहरों में ‘‘शुद्ध के लिये युद्ध’’
रैलियाँ निकाली जाने हेतु मान. मुख्यमंत्री जी से आग्रह
अब जनता मिलावटखोरों के विरूद्व जाग्रत हो चुकी है : यादव

20 December 2019
पूर्व केविनेट मंत्री एवं प्रदेश काॅग्रेस सहकारिता प्रकोष्ठ के अध्यक्ष भगवान सिंह यादव ने मुख्यमंत्री कमलनाथ जी से आग्रह किया है कि इन्दौर और भोपाल की तर्ज पर प्रदेश के अन्य सभी शहरों में भी ‘‘शुद्ध के लिये युद्ध’’ रैलियाँ निकाले जाने हेतु मुख्यमंत्री जी से आग्रह किया है। दोनों रैलियों में हजारों नागरिकों द्वारा मिले व्यापक जनसमर्थन को देखते हुए अब यह जरूरी हो गया है कि सभी 697 शहरों में ‘‘शुद्ध के लिये युद्ध’’ रैलियाँ सरकार और जनसहयोग से निकाली जायें।
श्री यादव ने कहा है कि इन्दौर, भोपाल की रैलियों की सफलता से यह सिद्ध हो गया है कि जनता अब मिलावट खोरों के विरूद्व जाग्रत हो चुकी है। इन रैलियों के समापन पर मुख्यमंत्री ने भी अपने संदेश में मिलावट के खिलाफ चुप न बैठने का संकल्प लिया है। इस अभियान से प्रदेश की जनता जहाँ भारी खुश है वहीं मिलावटखोरों में भी हड़कम्प है। उन्होंने कहा है कि भूमाफिया से ज्यादा खतरनाक तो मिलावटखोर माफिया है। मिलावटी खाद्य सामग्री के कारण लोगों के स्वास्थ्य पर सीधा असर पड़ रहा है।
भगवान सिंह यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ का एक साल बेमिसाल रहा है। यह साल अन्य बड़ी उपलब्धियों के साथ-साथ ‘‘शुद्ध के लिये युद्ध अभियान शुरू करने के लिये भी जाना जायेगा। मध्यप्रदेश में इस अभियान को मिले भारी जनसमर्थन को देखते हुए राजस्थान ने भी इसे शुरू किया है। श्री यादव ने बताया कि तीस मिलावटखोरों के विरूद्व राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्यवाही की गयी है और 87 व्यापारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज हुई है। उन्होंने सरकार को सुझाव दिया है कि जिन खाद्य अधिकारियों के क्षेत्र में मिलावट की सामग्री लगातार पकड़ी जा रही है उन अधिकारियों के विरूद्व भी वैधानिक कार्यवाही की जाये। श्री यादव ने कहा कि ‘‘शुद्ध के लिये युद्ध’’ अभियान का विस्तार तहसील, ब्लाॅक और अन्य छोटे शहरों तक किया जाना जरूरी है। यह एक ऐसा जनहितैषी अभियान है जिसमें जनता खुद-ब-खुद जुड़ती जा रही है। जनता का जुड़ाव ही इस अभियान की सफलता का मूल आधार है। यादव ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेष बघेल को भी पत्र लिखकर यह अभियान शुरू करने का आग्रह किया हे। तीनों पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ द्वारा यह अभियान चलाने पर निश्चित ही वहाँ की जनता को शुद्ध खाद्य सामग्री मिल सकेगी और एक राज्य से दूसरे राज्य में भेजी जाने वाली सामग्री के शुद्ध होने की गारण्टी भी लोगों को मिल सकेगी। भोपाल।

‘माफिया मुक्त’ होगा मध्यप्रदेश संगठित अपराध के लिए अलग से कानून बनाया जायेगा
12 December 2019
भोपाल। मध्यप्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी ने आज प्रदेश के चारों महानगरों इंदौर, भोपाल, ग्वालियर एवं जबलपुर के वरिष्ठतम प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों की अतिमहत्वपूर्ण बैठक आयोजित की। जिसमें मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव एवं प्रदेश के पुलिस महानिदेशक भी मौजूद थे।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि संगठित अपराध करने वालों पर पुलिस और प्रशासन कहर बनकर टूट पड़े। मैं मध्यप्रदेश को माफिया मुक्त देखना चाहता हूं। हर प्रकार के माफिया से मध्यप्रदेश को मुक्त कराना होगा। चाहे वो जबरन वसूली वाले हांे, उगाही करने वाले हों, भू-माफिया हों, ड्रग माफिया हों, सहकारिता माफिया हों, प्रदेश के नागरिकों को संगठित गिरोह बनाकर परेशान करने वालों से मध्यप्रदेश को निजात मिलनी चाहिए। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि, मैं चाहता हंू कि यह सिर्फ आप्टिक्स के लिए न हो अर्थात सिर्फ दिखावा न हो, सिर्फ समाचार की सुर्खियों में नहीं, माफिया के खिलाफ कार्यवाही के परिणामों का प्रमाण पत्र मैं प्रदेश की जनता से चाहता हूं।
इंदौर के जीतू सोनी की शिकायत मुझे किसी ने एक माह पहले की थी और बताया था कि वह ब्लैकमेलिंग कर रहा है। तो मैंने अपने अधिकारियों से कहा कि यह कौन शख्स है, मुझे इसकी विस्तृत जानकारी दी जाये। जब मेरे पास जानकारी आयी तब मैं हतप्रभ था कि यह माफिया लंबे समय से लोगांे की जमीन-जायदाद पर कब्जे और लोगों को ब्लैकमेलिंग का काम करता है तब मैंने प्रशासन को सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिये।
मुख्यमंत्री जी ने यह भी कहा कि माफिया कानून के दायरे के बाहर रहकर काम करता है, उन्हें कानून की जद में लाना होगा और कड़ा दण्ड देना होगा। कार्यवाही ऐसी की जाये, जिसका संदेश प्रदेश के कोने-कोने तक जाये और माफिया अपराध करने का फिर कभी साहस न जुटा पाये। इस बेहद महत्वपूर्ण बैठक में पुलिस मुख्यालय में आॅर्गेनाईज क्राईम के लिए एक अलग से ब्रांच बनाने तथा स्पेशल कोर्ट पर भी चर्चा की गई। मुख्यमंत्री जी ने अपनी मंशा जाहिर करते हुए कहा कि जल्द ही संगठित अपराध के खिलाफ एक कानून भी लाया जायेगा। मुख्यमंत्री जी ने निर्देश देते हुए स्पष्ट किया कि कपड़ों पर राजनैतिक बिल्ला देखकर कार्यवाही न की जाये अर्थात कोई किसी की कितनी भी पैरवी क्यों न करे, माफिया को हर हाल में सलाखों के पीछे डाला जाये।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि मेरे समूचे सार्वजनिक जीवन में मैंने कभी किसी अपराधी प्रवृति के व्यक्ति को संरक्षण नहीं दिया। मेरे साथ काम करने वाले सभी पुलिस अधिकारी और प्रशासनिक अधिकारी इस बात को बखूबी जानते हैं।
अंततः मुख्यमंत्री जी ने कहा यह सब तुम मेरे लिए नहीं, प्रदेश के भले के लिए कर रहे हो, यह बात तुम्हें हमेशा याद रखना चाहिए।

‘एक साल-प्रदेश खुशहाल’
सूचना प्रौद्योगिकीएआधुनिक सुशासन की उम्मीदें रंग ला रही हैं,
आध्यात्म से खुशियां मुस्कुरा रही हैं
निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता की पक्षधर: कमलनाथ सरकार

26 November 2019
भोपाल। सम्मानीय पत्रकार बंधुओं, मध्यप्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी ने अपना समूचा ध्यान सुशासन पर केंद्रित किया है। उनकी मान्यता है कि अगर योजनाओं का परिणाममूलक क्रियान्वयन करना है तो प्रदेश को सुशासन के प्रति प्रतिबद्ध होना होगा। इसी के दृष्टिगत मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी ने सूचना प्रौद्योगिकी के बेहतर इस्तेमाल से मध्यप्रदेश के सुशासन की दिशा में एक बड़ा कदम बढ़ाया है और लगभग एक वर्ष के कार्यकाल में उसके सकारात्मक परिणाम भी सामने आने लगे हैं। सूचना प्रौद्योगिकी से सुशासन की ओर बढ़ते कदम:- 1. मध्यप्रदेश मंे दूरसंचार सेवा/ इंटरनेट सेवा/ अवसंरचना प्रदाताओं पर वायर लाइन या वायरलेस आधारित वाइस या डाटा पहुंच सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए अधोसंरचना की स्थापना को सुगम बनाने हेतु नीति-2019 तथा प्रक्रिया निर्धारित की गयीं जिसके तहत अब कंपनियां आॅनलाइन आवेदन कर जिला कलेक्टरांे से भूमि उपयोग का लाइसेंस प्राप्त कर सकते हैं। 2. प्रदेश में ।प् (आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस), डस् (मशीन लर्निंग), प्व्ज् (इंटरनेट आॅफ थिंग्स) जैसी नवीन तकनीकों का उपयोग कर शासकीय सेवाओं को बेहतर रूप दिए जाने के लिए छ।ैैब्व्ड के साथ एमओयू किया गया है। 3. प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र में निवेश को बढ़ावा देने के लिए आईटी पाॅलिसी में संशोधन कर इसे अधिक आकर्षित बनाया गया है। 4. राज्य में नये डाटा सेंटर की स्थापना में सहयोग प्रदान करने हेतु सूचना प्रौद्योगिकी की निवेश प्रोत्साहन नीति में संशोधन किया गया है। डाटा सेंटर क्षेत्र में नवीन निवेश को आकर्षित करने हेतु भूमि बैंक (स्।छक् ठंदा) बनाये जाने की दिशा में कार्य किया जा रहा है। 5. मैप-आईटी के सहयोग से विभिन्न विभागों की प्दजमतदंस ूवतासिवू एवं कम्प्यूटरीकृत का कार्य प्रगति पर है।
6. मप्र स्टेट इलेक्ट्राॅनिक्स डेव्हलपमेंट कार्पोरेशन द्वारा स्टेट वाइड एरिया नेटवर्क (स्वान) के उन्नयन का कार्य किया जा रहा है।
7. प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नवीन एवं प्रभावी लागत तकनीकी का प्रयोग किया जा रहा है। जैसे एप्लीकेशन्स को होस्टिंग पर रखना।
निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता के पक्षधर:-
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी हमेशा से निर्भीक और निष्पक्ष पत्रकारिता के पक्षधर रहे हैं। वे मानते है कि सरकार के कार्यों की निष्पक्ष पत्रकारिता द्वारा की गई समीक्षा ही सरकार का सही मार्ग प्रशस्त कर सकती है। कांगे्रस सरकार पत्रकारांे के सरोकारों को सर्वोच्च प्राथमिकता देगी तथा निर्भीक पत्रकारिता को सुनिश्चित करने के लिए जल्द ही पत्रकार सुरक्षा कानून भी लेकर आयेगी।
1. समितियों का गठन:-
मध्यप्रदेश में दिसम्बर-2018 में नई सरकार के गठन के बाद पत्रकारों को अधिमान्यता देने के लिए राज्य एवं संभाग-स्तरीय अधिमान्यता समितियाँ गठित की गई हैं। पत्रकारों को विभिन्न बीमारियों के इलाज के लिए आर्थिक सहायता हेतु मध्यप्रदेश पत्रकार संचार कल्याण समिति एवं पत्रकारों की कठिनाइयों के अध्ययन और सुझाव देने हेतु राज्य-स्तरीय समिति का गठन किया गया है। पत्रकारिता प्रोत्साहन एवं नवाचार के लिए राज्य-स्तरीय समिति तथा वचन-पत्र के बिन्दु क्रमांक-45.9 का पालन करते हुए महिलाओं को पत्रकारों के क्षेत्र में सुरक्षात्मक व्यवस्था के तहत जोड़ने एवं उनको विशेष प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से महिला पत्रकारों की समिति गठित की गई है। इस समिति की बैठक विगत 18 जून को सम्पन्न हो चुकी है, जिसमें महिला पत्रकारों से सुझाव लिए गये हैं।
2. अधिमान्यता:-
वर्तमान मंे राज्य-स्तरीय अधिमान्यता प्राप्त पत्रकारों की संख्या 1127, जिला-स्तरीय 1947 तथा तहसील-स्तरीय अधिमान्यता प्राप्त पत्रकारों की संख्या 822 है। इस प्रकार कुल 3896 अधिमान्यता प्राप्त पत्रकार हैं।
3. पत्रकारों को आर्थिक सहायता:-
पत्रकारों को स्वयं एवं उनके परिवार के आश्रित सदस्यों को उपचार के लिए पात्रता और आवश्यकता के आधार पर आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाई जाती है। इसके तहत सामान्य बीमारियों के लिये 20 हजार रुपये तक एवं गंभीर बीमारियों के उपचार हेतु अधिकतम रुपये 50 हजार की आर्थिक सहायता दी जाती है। दिसम्बर-2018 से आज दिनांक तक 422 पत्रकारों को एक करोड़ 31 लाख 54 हजार की आर्थिक सहायता प्रदान की जा चुकी है।
4. अनुदान:-
वर्ष 2019-20 में माधवराव सप्रे समाचार-पत्र संग्रहालय, भोपाल को 10 लाख रुपये का अनुदान दिया गया।
5. पत्रकारों का बीमा:-
इस वर्ष कुल 2874 पत्रकारों का बीमा करवाया गया है। इसमें से 2310 अधिमान्य और 564 गैर-अधिमान्य पत्रकार हैं। इस वर्ष बीमा कम्पनी द्वारा पत्रकारों के लिये बढ़ाई गई प्रीमियम की राशि का भुगतान भी राज्य सरकार द्वारा किया गया है। पत्रकारों द्वारा कुल प्रीमियम एक करोड़ 70 लाख रूपये दिया गया है, जबकि कमलनाथ सरकार द्वारा 5 करोड़ 30 लाख का प्रीमियम दिया गया है। पत्रकारों को बीमा योजना का लाभ इस साल 4 अक्टूबर से लगातार मिल रहा है। बीमित पत्रकारों के नाम जनसम्पर्क की वेबसाइट पर अपलोड हैं। बीमा.कार्डों का वितरण शुरू हो गया है। इस योजना में स्वास्थ्य बीमा 2 एवं 4 लाख रुपये का और दुर्घटना बीमा क्रमशरू 5 लाख और 10 लाख रुपये का है। विगत 4 अक्टूबर से अब तक लगभग 60 पत्रकारों के 24 लाख रुपये के बीमा क्लेम का भुगतान किया गया है।
गत वर्ष कुल 2259 पत्रकारों ने बीमा करवाया था। इस वर्ष 615 अधिक पत्रकारों ने बीमा करवाया है।
6. सम्मान-निधि:-
मध्यप्रदेश शासन द्वारा प्रदेश के वरिष्ठ तथा बुजुर्ग 209 पत्रकारों को सम्मान-निधि दी जा रही है। सम्मान-निधि के लिये वरिष्ठ पत्रकारों की न्यूनतम आयु 60 वर्ष है। सरकार ने सम्मान-निधि की राशि 7 हजार से बढ़ाकर 10 हजार रूपये कर दी गई है।
7. लेपटाॅप:-
राज्य-स्तरीय अधिमान्यता प्राप्त कुल 17 पत्रकारों को इस वर्ष लैपटॉप क्रय करने के लिये प्रत्येक को 40 हजार रूपये की राशि स्वीकृत की गई है।
8. आवास ऋण ब्याज अनुदान:-
मध्यप्रदेश शासन द्वारा अधिमान्य पत्रकारों को 25 लाख रुपये तक के आवास ऋण पर 5 प्रतिशत ब्याज अनुदान 5 वर्ष तक दिये जाने का प्रावधान है। यह प्रक्रिया प्रचलन में है।
9. पत्रकारिता सम्मान:-
मध्यप्रदेश में उत्कृष्ट पत्रकारिता के लिये उत्साहजनक वातावरण बनाये जाने और इस क्षेत्र में कार्य कर रहे अग्रणी पत्रकारों को सम्मानित करने के लिये मध्यप्रदेश शासन द्वारा पत्रकारिता सम्मान प्रदान किये जाते हैं। यह सम्मान वर्ष 2016 तक के वितरित किये जा चुके हैं। वर्ष 2017, 2018 एवं 2019 के सम्मान के लिये भी पत्रकारों से आवेदन आमंत्रित किये जा चुके हैं। ज्यूरी की बैठक के निर्णय अनुसार उक्त सम्मान समारोहपूर्वक प्रदान किये जायेंगे।
10. इंडियन टेलिविजन अवार्ड:-
मुंबई के बाहर पहली बार इंदौर में 10 नवम्बर, 2019 को आयोजित हुए इंडियन टेलीविजन अवार्ड के आयोजन में जनसंपर्क विभाग ने सहभागिता करते हुए राज्य सरकार की जन कल्याणकारी नीतियों एवं विभिन्न निर्णयों का प्रचार-प्रसार किया।
11. मैग्निफिसेंट मध्यप्रदेश:-
प्रदेश के युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने और औद्योगिक क्षेत्र में अधिकतम निवेश को आकर्षित करने के लिए इंदौर में अक्टूबर, 2019 को हुए मैग्निफिसेंट एमपी-2019 के आयोजन किया गया जिसमे जनसंपर्क विभाग ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। इस आयोजन का राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर व्यापक प्रचार-प्रसार किया गया।
12. महात्मा गांधी जी का 150 वां जन्मोत्सव वर्ष :-
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के 150 वें जन्म वर्ष पर जनसंपर्क विभाग द्वारा गांधी जी के विचारों का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। इसके तहत ‘मध्यप्रदेश में गांधी’ पुस्तक का पुनः प्रकाशन किया गया। प्रदेश के जिन 13 स्थानों पर गांधी जी का आगमन हुआ था, वहां पर विभाग द्वारा प्रदर्शनी और संगोष्ठियों का आयोजन किया गया। पूरे वर्ष भर गांधी जी के कृतित्व और व्यक्तित्व पर आधारित चलित प्रदर्शनी प्रदेश भर में भ्रमण करेगी।
आध्यात्म, जितना सनातन उतना प्रासांगिक:-
मध्यप्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी की आध्यात्म विभाग की अवधारणा लगभग 34 वर्ष पूर्व की है। जब वे लोकसभा में दूसरी बार चुनकर गये, तब उन्होंने सदन में नियम 377 के अधीन बोलते हुए कहा था कि भारत की आत्यामिक विरासत की रक्षा करना समाज और विशेष रूप से सरकार का कार्य है। वास्तविक आध्यामिक संस्थाओं और इस क्षेत्र में कार्य कर रहे व्यक्तियों को प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए और इस प्रायोजनार्थ सरकार को आध्यात्मवादियों के लिए एक प्रामाणिक नीति बनाना चाहिए । वर्ष 1985 में लोकसभा में कही गई उक्त पंक्तियां आज भी संसदीय रिकार्ड का हिस्सा है। साथ ही यह हमारे वचनपत्र की प्रतिबद्धता भी थी।
मेरा सौभाग्य है कि श्री कमलनाथ जी के इस पुण्य संकल्प को चरितार्थ करने में मैं अपना योगदान दे पाया हूं।
राम वन. गमन. पथ:-
मध्यप्रदेश की पावन भूमि का अलौकिक स्वरूप भगवान प्रभु श्रीराम के चरण कमल के प्रदेश में पड़ते ही साकार हो गया था। कमलनाथ सरकार प्रतिबद्ध है कि प्रदेश के वे पवित्र स्थल जैसे सतना, पन्ना, कटनी, उमरिया, शहडोल, अनूपपुर आदि जिले जहां भगवान श्रीराम ने अपने वनवास का समय व्यतीत किया था, प्रदेश कांगे्रस सरकार उन स्थलों को वही अलौकिक स्वरूप देने के लिए संकल्पित है। चित्रकूट-कामदगिरी, गुप्तगोदावरी, स्फटिक.शिला, अनुसूईया.आश्रम, हनुमान.धारा, दशरथ.गाठ इत्यादि स्थलों को धार्मिक पर्यटन के रूप में विकसित किया जायेगा। साथ ही भोपाल में समूचे राम वन.गमन.पथ की प्रतिकृति भी निर्मित की जायेगी।
मंदिरों, मठों, तीर्थ स्थलों का उन्नयन:-
प्रदेश में हमारी सरकार के अस्तित्व में आते ही मंदिरों में पूजा-अर्चना करने वाले पुजारियांे की बेहतरी के लिए नीतियों को नये सिरे से निर्धारित किया एवं पुजारियों के मानदेय को तीन गुना कर दिया गया। सरकार द्वारा माँ नर्मदा, माँ क्षिप्रा, माँ मंदाकिनी एवं माँ ताप्ती जैसी जीवनदायिनी पवित्र नदियों की सुरक्षा एवं संरक्षण हेतु नदी न्यास का गठन किया गया है। इसके साथ ही मंदिर एवं मठों की व्यवस्थाओं को बनाये रखने हेतु मठ-मंदिर सलाहकार समिति का भी गठन किया गया है। विभिन्न मंदिरों के जीर्णाद्धार हेतु भी राशि प्रदान की गई है। साथ ही तीर्थदर्शन हेतु तीन विशेष ट्रेने चलायी गई हैं।
विधि और विधायी कार्य:-
पत्रकार साथियों आपको एवं सभी प्रदेशवासियों को संविधान दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाऐं, 26 नवम्बर, 1949 को भारतीय संविधान सभा की तरफ से इसे अपनाया गया था। मैं यहां बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर जी, जिन्होंने हमें विश्व का सबसे अच्छा संविधान दिया है, संविधान के प्रति उनकी भावनाआंे को आज में यहां व्यक्त करना चाहता हूं। उनके शब्द थे ‘मैं महसूस करता हूं कि संविधान चाहे कितना भी अच्छा क्यों न हो, यदि वे लोग, जिन्हें संविधान को अमल में लाने का काम सौंपा जाये, खराब निकले तो निश्चित रूप से संविधान खराब सिद्ध होगा।’ दूसरी ओर, संविधान चाहे जितना भी खराब क्यों न हो, यदि वे लोग, जिन्हें संविधान को अमल में लाने का काम सौंपा जाये, अच्छे हों तो संविधान अच्छा सिद्ध होगा।
आज केंद्र की भाजपा सरकार संवैधानिक मूल्यों को तिरस्कृत कर उसे लागू करना चाहती है। प्रजातंत्र पर प्रहार किया जा रहा है। मगर हाल ही में महाराष्ट्र के संदर्भ में सर्वोच्च अदालत का फैसला हमारे संविधान के प्रति गहरी आस्था पैदा करता है।
1. राज्य शासन द्वारा बाल अधिकार आयोग अधिनियम 2005 के अंतर्गत बालकांे के विरूद्ध अपराधों अथवा बाल अधिकारों के अतिक्रमण के अपराधों की त्वरित सुनवाई हेतु राज्य के प्रत्येक सेशन खण्ड से सेशन न्यायालयांे को चिन्हित किया गया है।
2. सायबर एवं उच्च तकनीकी अपराधों के विचारण हेतु जबलपुर, इंदौर, भोपाल एवं ग्वालियर के अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश के 4 अतिरिक्त न्यायालयों की स्थापना। न्यायाधीश एवं अमले के कुल 36 पदों का सृजन।
3. प्रदेश के 50 जिलों मंे वाणिज्यिक न्यायालयों का गठन। जिला न्यायाधीशों को वाणिज्यिक न्यायालयों के न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति।
4. मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय द्वारा उच्च न्यायालय में समस्त प्रकार के शुल्क को आॅनलाईन प्राप्त करने हेतु आॅनलाईन फीस माॅड्यूल तैयार।
5. मध्यप्रदेश में 854 नवीन न्यायालय भवन/ न्यायालय कक्ष निर्मित किये जाने एवं न्यायाधीशों के लिए 985 नवीन आवासगृह निर्मित किये जाने का लक्ष्य।
6. माननीय उच्च न्यायालय द्वारा व्यवहार न्यायाधीश वर्ग-2 के 140 पदों की पूर्ति हेतु कार्यवाही प्रचलन में।

अपनी सरकार में 3 वर्ष तक फसल बीमा की राशि रोकने वाले पूर्ववर्ती किसान पुत्र शिवराज सरकार की खुली पोल
केंद्र सरकार के निरंतर किसान विरोधी रवैये पर शिवराज सिंह व प्रदेश के 28 भाजपा सांसद क्यों है मौन ?: सलूजा

26 November 2019
भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में वर्ष 2015- 16, 2016-17 व 2017 -18 में अपने हिस्से का प्रीमियम भुगतान ना करने पर पूर्ववर्ती शिवराज सरकार को आड़े हाथों लिया है।
सलूजा ने कहा की स्वयं को किसान पुत्र बताने वाले शिवराज सिंह की सरकार लगातार 3 वर्षों तक किसानों के प्रीमियम में मध्य प्रदेश के हिस्से का 40 फीसदी भुगतान केंद्र सरकार को नहीं कर पायी, इस बात से पूर्ववर्ती शिवराज सरकार की किसान हितैषी होने की पोल समूचे मध्यप्रदेश में खुल चुकी है। वहीं दूसरी ओर इस वित्तीय वर्ष में अपने हिस्से के 505 करोड़ रुपए नियमानुसार कमलनाथ सरकार ने जमा कर दिए, जिसके बाद भी केंद्र सरकार ने फसल बीमा से इनकार कर दिया और पहले शिवराज कार्यकाल के बकाया 2300 करोड़ चुकाने की शर्त रख दी। जिसके कारण प्रदेश के लाखों किसान फसल बीमा मिलने से वंचित रह गए।
सलूजा ने आरोप लगाया कि इससे पहले भी केंद्र सरकार ने अतिवृष्टि से आयी आपदा की राहत राशि में कटौती की है। प्रदेश में प्राकृतिक आपदा से 16000 करोड़ का नुकसान हुआ है, 60 लाख हेक्टेयर फसल बर्बाद हुई है और 55 लाख किसान प्रभावित हुए हैं। राष्ट्रीय आपदा कोष से 6621 करोड रुपए की मांग राज्य सरकार ने केन्द्र सरकार से की थी। जिसमें मात्र 1000 करोड़ ही अभी तक जारी हुये हैं, ऐसे में बीमा राशि भी अटकने से प्रदेश के अन्नदाता किसानों की मुश्किलें दोगुनी हो गई हैं।
सलूजा ने मांग की है कि मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह को प्रदेश के 28 सांसदों के साथ केंद्र सरकार के खिलाफ तत्काल धरने पर बैठना चाहिए। किसान हितैषी होने का भाजपा सिर्फ ढोंग करती है, जबकि उसकी वास्तविकता किसान विरोधी है। इतने महत्वपूर्ण विषय पर भाजपा नेताओं का मौन समझ से परे हैं।

प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष चंद्र प्रभाष शेखर, प्रकाश जैन, महामंत्री राजीव सिंह, जनसंपर्क मंत्री, पी.सी. शर्मा, प्रदेश कांग्रेस मीडिया उपाध्यक्ष अभय दुबे की संयुक्त पत्रकार वार्ता

‘एक साल-प्रदेश खुशहाल’
उम्मीदें रंग लाई - तरक्की मुस्कुराई


18 November 2019
भोपाल। सम्मानीय पत्रकार बंधुओ,
सर्वप्रथम मध्यप्रदेश के सरल, सहज, सहृदयी, संवेदनशील और सुशासन के प्रति प्रतिबद्ध यशस्वी मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी को कांग्रेस परिवार एवं समूचे मध्यप्रदेश की ओर से जन्मदिवस की अनंत शुभकामनाएं।
पत्रकार साथियों, आज आप सभी को यहां आमंत्रित करने का बेहद खास उद्देश्य है और हमें प्रतीत होता है कि इससे अधिक शुभ मुहूर्त और कोई हो भी नहीं सकता था, जब हम मध्यप्रदेश कांग्रेस सरकार की एक वर्ष की उपलब्धियों को जनता तक ले जाने की शुरूआत यशस्वी मुख्यमंत्री कमलनाथ जी के जन्मदिवस से करें।
आज समूचे मध्यप्रदेश को इस बात का साफ आभास हो रहा है कि 17 दिसम्बर, 2018 का वह दिन जब मुख्यमंत्री के रूप में श्री कमलनाथ जी ने शपथ ली, वह मध्यप्रदेश के लिए वरदान साबित हुआ। आज जब कांग्रेस सरकार का एक वर्ष पूर्ण होने को है, तब पूरा प्रदेश पूरे आत्मविश्वास से कह रहा है ‘एक साल-प्रदेश खुशहाल’ अब ‘प्रदेश की उम्मीदें रंग ला रही है और तरक्की मुस्कुरा रही है।’

मध्यप्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी का लंबा सार्वजनिक जीवन हमेशा से पारदर्शी और उपलब्धियों से भरा रहा है। यह प्रदेश का सौभाग्य है कि उसे एक ऐसा मुख्यमंत्री सौगात के रूप में मिला है, जिसे केंद्र में वाणिज्य एवं उद्योग, वन एवं पर्यावरण, शहरी विकास, संसदीय कार्य जैसे महत्वपूर्ण मंत्रालयों का गहरा अनुभव प्राप्त है और उनका यह अनुभव मध्यप्रदेश के विकास मंे परिलक्षित भी हो रहा है।
श्री कमलनाथ जी ने मुख्यमंत्री के रूप में जब अपना दायित्व संभाला, तब विरासत में उन्हें जो पिछली भाजपा सरकार ने सौंपा था, वह था आर्थिक बदहाली, चरम पर अपराध, महिलाओं क आत्मसम्मान को ठेस, नौनिहालों का बिगड़ा हुआ स्कूली शिक्षा का भविष्य, प्रदेश का गिरता हुआ स्वास्थ्य, मंद और बंद पड़े उद्योग, किसानों के जीवन और आजीविका का संकट, बेराजगारी से असुरक्षित युवाओं का भविष्य, अर्थात विरासत में कई चुनौतियां नेतृत्व के सम्मुख थीं। मगर, चुनौतियों को अवसर में बदलने का नाम ही कमलनाथ है।
कमलनाथ जी ने शपथ लेते ही इतनी बड़ी आर्थिक बदहाली के बावजूद सबसे पहला निर्णय हमारे अन्नदाता किसानों के हित में उनकी कर्जमाफी का लिया। आज 20 लाख किसानों को कर्ज से मुक्त किया जा चुका है। हमारा कण-कण, हमारा रोम-रोम अन्नदाता किसानों का ऋणी है। बचे हुए किसानों की कर्जमाफी हमारा फर्ज है और हम वह हर हाल में पूरा करेंगे।
सार्वजनिक जीवन में कम लोग ही यह साहस जुटा पाते हैं कि धारा के विपरीत अपनी नौका का रूख करें और तूफानों के पार अपने गंतव्यों को तलाश लें। कमलनाथ सरकार ने ना सिर्फ किसानों की कर्जमाफी का कदम आगे बढ़ाया अपितु देश की सबसे सस्ती श्रेणी की बिजली 44 पैसे प्रति यूनिट आज प्रदेश के किसानों को दी जा रही है। आज प्रदेश के 84 प्रतिशत लोग देश की सर्वाधिक सस्ती श्रेणी की घरेलू बिजली अर्थात एक रूपये प्रति यूनिट 100 यूनिट तक का लाभ ले रहे हैं, हम अभिभूत हैं कि प्रदेश के इंदिरा गृह ज्योति योजना के तहत लोगों का बिल पिछली सरकार की तुलना मेें मात्र 30 से 35 प्रतिशत रह गया है।
कमलनाथ जी की स्पष्ट मान्यता है कि औद्योगिक निवेश मांगने से नहीं आता, उसे आकर्षित करना होता है। इतने कम समय में कमलनाथ जी ने निवेश के लिए वो आकषर्ण पैदा किया है, कि देश की भीषणतम आर्थिक मंदी के बावजूद उद्योग जगत मध्यप्रदेश मंे निवेश के लिए कतारबद्ध है।
नौनिहालों की स्कूली शिक्षा में बुनियादी बदलाव की बुनियाद भी कमलनाथ सरकार रखने जा रही है और स्टीम एज्युकेशन सिस्टम अर्थात र्साइंस, टेक्नाॅलाजी, इंजीनियरिंग, आट्र्स और मेथ्स बेस्ड शिक्षा प्रणाली को अपनाने जा रही है। इसी प्रकाश उच्च शिक्षा को देश में उच्चतम स्तर पर पहुंचाने का मानस भी कमलनाथ सरकार ने बनाया है।
प्रदेश के नागरिकों के स्वास्थ्य की चिंता के दृष्टिगत स्वास्थ्य का कानूनी अधिकार, ‘राईट-टू-हेल्थ’, प्रदेश के सभी नागरिकों के लिए पहुंच में पानी, पर्याप्त पानी और पीने योग्य पानी का इंतजाम अर्थात ‘राईट-टू-वाॅटर’ भी कमलनाथ जी की पहली प्राथमिकताओं में है।
प्रदेश का पिछड़ा वर्ग पीछे न रह जाये, इसलिए उन्हें 27 प्रतिशत आरक्षण का अधिकार, उद्योगांे में प्रदेश के युवाओं को 70 प्रतिशत नौकरी के अधिकार को भी कमलनाथ सरकार ने वैधानिकता प्रदान की है। शहरों के नियोजित विकास के लिए मेट्रो पाॅलिटियन अर्थार्टी और मेट्रो टेªन की सौगात की कार्यायोजना को भी क्रियान्वित किया जा रहा है। बेटियों के व्याह में 51 हजार का योगदान, आदिवासी भाईयों की कर्जमुक्ति अभियान, मिलावटखोरी के खिलाफ शुद्ध के लिए युद्ध भी कमलनाथ सरकार ने छेड़ रखा है।
ऐसी उपरोक्त कई उपलब्धियों को लेकर मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार के मंत्रीगण, प्रादेशिक वरिष्ठ नेतागण, प्रवक्तागण, जिला/शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्षगण निरंतर एक माह तक प्रदेश के जनता के सम्मुख जायेंगे।
हम अभिभूत हैं कि मध्यप्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने मध्यप्रदेश की प्रतिकूल आर्थिक और सामाजिक चुनौतियों के बावजूद एक वर्ष की अल्प अवधि में अपने वादों को वचनों की तरह निभाया, इसलिए प्रतिपक्षीय दल के विधायकों और वरिष्ठ नेताओं ने भी फरमाया कि हम कमलनाथ जी के विकास कार्यों के कायल हैं।

राफेल भ्रष्टाचार पर संस्थागत तरीके से पर्दा डालने से बड़ा
धिक्कार और कुछ नहीं हो सकता: अभय दुबे
सुप्रीम कोर्ट के आदेश से घोटाले की जांच का रास्ता साफ

16 November 2019
भोपाल। प्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष अभय दुबे ने जारी एक बयान में बताया कि राफेल प्रकरण में पुर्नविचार याचिका पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय ने राफेल में हुए भीषणतम भ्रष्टाचार की निष्पक्ष जांच के रास्ते खोल दिये है। सही मायने में इस निर्णय के आने के बाद समूची भारतीय जनता पार्टी आत्मग्लानि से ग्रसित हो गयी है।
दुबे ने कहा कि अदालत ने अपने फैसले में यह बात साफ की है कि संविधान के आॅटिकल 32 में अदालत के अधिकार बहुत सीमित हैं। न तो कीमत में हेराफेरी देखने के, न काॅन्ट्रेक्चुअल डिटेल्स देखने के न टेक्नीकल स्पेसिफिकेशन देखने के और न फिजिबिलिटी देखने के अधिकार न्यायालय को हैं। न्यायालय ने उक्त बातें अपने निर्णय के पैरा 19, 67 और 73 में साफ लिखीं हैं। इसलिए सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि कोई भी इंडिपेंडेंट एजेंसी समेत पुलिस एवं सीबीआई इस मामले की तफ्तीश कर सकती है। बगैर उन पाबंदियों और सीमाओं के जिनके दायरे में सुप्रीम कोर्ट ऐसा नहीं कर सकती है। यह बात सुप्रीम कोर्ट ने अपने पैरा 73 और 86 में फिर से कही है।
कांग्रेस पार्टी ने इसलिए ज्वाइंट पाॅर्लियामेंट्री कमेटी से जांच कराने की मांग राफेल मामले में शुरू से ही की थी। क्योंकि जेपीसी के पास अधिकार है कि वे इस घोटाले से जुड़े लोगों को समन करके बुला सकती है। दस्तावेज ले सकती है। जैसे कि सेना के उच्च अधिकारियों के डिसेंट नोट, जिसमें उन्होंने राफेल की खरीदी पर और उसकी बड़ी हुई कीमतों पर सवाल खड़े किये थे।
ऽ अगर जेपीसी से जांच होती तो इस बात का भी खुलासा होता कि क्यों भाजपा की सरकार ने 30 हजार करोड़ के आॅफसेट कांट्रेक्ट में हिन्दुस्तान एरोनाटिकल लिमिटेड को दरकिनार कर दिया? ऽ क्यों यही आॅफसेट कांट्रेक्ट 12 दिन पुरानी एक कंपनी को दे दिया गया? क्यों 526 करोड़ रू. का राफेल विमान 1670 करोड़ रू. में खरीद कर भारत को 41205 करोड़ में खरीद कर भारत को चूना लगाया गया? ऽ जब 126 लड़ाकू विमानांे की आवश्यकता हिन्दुस्तान को थी तो उन्हें कम करके 36 क्यों कर दिया गया?
ऽ डिफेंस प्रोक्योरमेंट प्रोसिजर व कैबिनेट कमेटी आॅन सिक्योरिटी का वैधानिक रास्ता अपनाये बगैर प्रधानमंत्री ने व्यक्तिगत रूप से 10 अप्रैल, 2015 को एकतरफा 36 जहाज खरीदने की घोषणा क्यों कि? ऽ राफेल जहाज का बेंच मार्क प्राईज 5.2 बिलियन यूरो से बढ़ाकर 8.2 बिलियन यूरो क्यों कर दिया गया?
ऽ कानून मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय की डिफेंस एक्विजिशन विंग के एतराज के बावजूद साॅवरेन गारंटी की शर्त भाजपा सरकार ने क्यों हटा दी?
ऽ मध्यप्रदेश भाजपा के अध्यक्ष राकेश सिंह स्वयं सांसद हैं, क्या वे सुप्रीम कोर्ट के निर्णय अनुसार राफेल की जांच किसी निष्पक्ष संस्था से कराने के लिए तैयार हैं? क्या जेपीसी जांच के लिए वे सदन में पहल करेंगे। इसका जबाव हर हाल मंे धिक्कार दिवस मनाने वालों को देना चाहिए, अन्यथा इतने भीषणतम भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज न उठाने से बड़ा धिक्कार कुछ नहीं हो सकता।

श्री कमलनाथ जी के जन्मदिवस पर प्रदेश कांग्रेस
कार्यालय में आयोजित होंगे विभिन्न कार्यक्रम

16 November 2019
भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी की ओर से प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष एवं संगठन प्रभारी चंद्रप्रभाष शेखर, उपाध्यक्ष प्रकाश जैन, महामंत्री प्रशासन प्रभारी राजीव सिंह ने संयुक्त बयान जारी कर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी को 18 नवम्बर को उनके जन्मदिवस पर बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए उनके यशस्वी एवं दीर्घायु होने की कामना की है।
कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष एवं यशस्वी मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी का सोमवार, 18 नवम्बर, 2019 को जन्मदिवस मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के सभाकक्ष में मनाया जायेगा। इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस कार्यालय के सभाकक्ष में विभिन्न कार्यक्रम भी आयोजित होंगे।
प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय के राजीव गांधी सभाकक्ष में सोमवार, 18 नवम्बर को पूर्वान्ह 11 बजे केक काटकर, मिष्ठान वितरण एवं आतिशबाजी कर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष (मुख्यमंत्री) श्री कमलनाथ जी का जन्मदिवस मनाया जायेगा। इस अवसर पर सभाकक्ष में रक्तदान एवं स्वास्थ्य परीक्षण शिविर भी लगाया जायेगा।
उसी दिन कार्यक्रम के बाद दोपहर 1.30 बजे प्रदेश कांग्रेस के पदाधिकारी एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करेंगे। तत्पश्चात अपरान्ह में वृक्षारोपण कार्यक्रम भी आयोजित किया जायेगा। श्री कमलनाथ जी के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में प्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष अभय दुबे, प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री मो. सलीम, सचिव विजय सिरवैया एवं प्रवक्ता संगीता शर्मा इत्यादि द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों का संयोजन किया जायेगा।

अगले महीने 17 दिसंबर को अपनी सरकार के एक साल की
उपलब्धियों का जश्न मनाने के साथ ही, भाजपा के झूठे प्रचारों के
विरूद्ध भी हल्ला बोलेगी कांग्रेस: शोभा ओझा

16 November 2019
भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी मीडिया विभाग की अध्यक्षा श्रीमती शोभा ओझा ने आज जारी अपने वक्तव्य में बताया कि भाजपा सरकार में मंत्री रहे नरोत्तम मिश्रा का यह कहना कि ‘‘कांग्रेस सरकार ने अपना एक भी वचन पूरा नहीं किया है, बल्कि प्रवचन दिया है’’, पूरी तरह से आधारहीन, मिथ्या और भ्रामक बयान है, सच्चाई यह है कि कमलनाथ सरकार ने अपने 11 महीने से भी कम के कार्यकाल में, अब तक जनता को दिये हुए अपने कई महत्वपूर्ण वचनों को पूरा कर दिया है और सरकार अगले महीने 17 दिसंबर को अपने एक साल के कार्यकाल के पूरा होने के अवसर पर, अपने सभी मत्रियों के माध्यम से, अपना रिपोर्ट कार्ड प्रस्तुत करेगी और इस रिपोर्ट कार्ड के माध्यम से कमलनाथ सरकार के एक साल की तुलना भाजपा शासनकाल के पिछले 15 वर्षों से की जायेगी, जिससे नरोत्तम मिश्रा सहित पूरी भाजपा का झूठ, उनकी पिछली सरकार का नाकारापन और जमीनी सच्चाई, प्रदेश की जनता के सामने आ जायेगी।
श्रीमती ओझा ने नरोत्तम मिश्रा के हालिया बयान पर उक्त पलटवार करते हुए आगे कहा कि अगले महीने यानि 17 दिसंबर को, जब कमलनाथ सरकार के कार्यकाल का एक वर्ष पूरा होगा, तब पार्टी न सिर्फ अपनी उपलब्धियों का जश्न मनाएगी बल्कि भारतीय जनता पार्टी के झूठ के खिलाफ हल्ला बोलते हुए, उसके दुष्प्रचार का करारा जवाब देते हुए, कमलनाथ सरकार की जनहितैषी योजनाओं की जानकारी प्रदेश के जन-जन तक पहुंचाएगी।
श्रीमती ओझा ने कहा कि इस अहम मौके पर, प्रदेश सरकार के सभी मंत्री अपने एक साल के कामों का लेखा-जोखा दर्शाते हुए, अपना रिपोर्ट कार्ड प्रस्तुत करेंगे, जिसमें वे बताएंगे कि उनके विभाग के द्वारा पिछले एक वर्ष में क्या-क्या उपलब्धियां अर्जित की गई हैं और उन उपलब्धियों की तुलना भारतीय जनता पार्टी के पिछले 15 वर्षों के कार्यकाल में हुए, उस संबंधित विभाग के कार्यों से की जायेगी। अपने बयान के अंत में श्रीमती ओझा ने कहा कि कमलनाथ सरकार के मंत्रियों के साथ ही, कांग्रेस पार्टी के सभी विधायक, पदाधिकारी, मोर्चा संगठनों के अध्यक्षों सहित तमाम नेता, प्रदेश की जनता को यह बताएंगे कि पिछले एक वर्ष में सरकार द्वारा अब तक क्या-क्या महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल की गई हैं। अपनी उपलब्धियों और योजनाओं की जानकारी प्रदेश की जनता को देते हुए, सभी नेतागण इस बात का भी जिक्र करेंगे कि पिछले एक वर्ष में भारतीय जनता पार्टी और उसके नेताओं ने, सिवाय मिथ्या आलोचना के, कभी भी सकारात्मक विपक्ष की भूमिका अदा नहीं की बल्कि अतिवृष्टि से प्रदेश में आई तबाही के बावजूद 28 लोकसभा सांसदों सहित पूरी भाजपा ने, प्रधानमंत्री मोदी से प्रदेश के अन्नदाताओं के लिए कोई मदद मांगने की बजाय, बेशर्म खामोशी ओढ़े रखी।

राकेश सिंह और कैलाश विजयवर्गीय ख्याली पुलाव न पकाये
कमलनाथ सरकार पांच वर्ष पूर्ण करेंगी,
कांग्रेस के पास पूर्व से ही पर्याप्त बहुमत है, झाबुआ
उपचुनाव भी कांग्रेस हर हाल में जितेगी
यह जरूर सच है कि झाबुआ परिणाम के बाद
भाजपा विधायकों को संभालना मुश्किल होगा : नरेन्द्र सलूजा

14 October 2019
भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने झाबुआ में भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के उस बयान को ख्याली पुलाव बताया है, जिसमें उन्होंने कहा कि अगर भाजपा झाबुआ उपचुनाव जीत गई तो कमलनाथ सरकार बाहर हो जाएगी।
श्री सलूजा ने कहा कि भाजपा नेताओं के लिए यह अच्छा है कि वे ख्याली पुलाव ही बनाते रहे। ताकि उनके स्वप्न में दिखने वाली जीत उन्हें दिखती रहे। प्रदेश में कमलनाथ सरकार को अपने बयानों के माध्यम से अस्थिर बताने की कोशिश भाजपा नेतागण शुरू से ही करते रहते हैं। हमेशा असफल रहने के बाद भी वे अपनी बयानबाजियों से बाज नहीं आ रहे हैं।
श्री सलूजा ने कहा कि भाजपा को इस गीदड भभकियों का जवाब विधानसभा के वर्षाकालीन सत्र के दौरान भी मिल चुका है। भाजपा के दो विधायकों ने मत विभाजन के दौरान कांग्रेस को समर्थन दिया था।
श्री सलूजा ने कहा है कि भाजपा के नेता ख्याली पुलाव न पकाये, क्योंकि अब तक तो भाजपा ने ट्रेलर देखा है, पिक्चर तो अभी बाकी है। भाजपा सिर्फ चुनाव जीतने के लिए इस तरह की बयानबाजियों से गुमराह कर रही है। कमलनाथ सरकार पांच वर्ष पूर्ण करेगी और झाबुआ उपचुनाव भी भारी मतों से जीतेगी। लेकिन यह जरूर सच है कि झाबुआ उपचुनाव के परिणाम के बाद भाजपा में जरूर भगदड़ मचेगी और अपनी संख्याबल को संभालना भी उनके लिये मुश्किल होगा।

एकता परिषद के संस्थापक गांधीवादी नेता राजगोपाल
पी. वी. के नेतृत्व में म.प्र. में 90 दिवस पदयात्रा
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व सांसद सुरेन्द्र सिंह ठाकुर मप्र में आयोजित पद यात्रा के प्रभारी समन्वयक मनोनीत, श्योपुर, शिवपुरी, गुना, अशोकनगर, सागर, विदिशा में तीन दिवसीय पदयात्रा करेंगे

14 October 2019
भोपाल। एकता परिषद के संस्थापक गांधीवादी नेता राजगोपाल पी.वी. के नेतृत्व में प्रदेश में गांधीवादी संस्थाओं के पदाधिकारियों द्वारा पूरे प्रदेश में पदयात्रा निकाली जा रही है। महात्मा गांधी के विचारों, आदर्शो एवं नीतियों के पालन से ही हमारा राष्ट्र एक सूत्र में बंधकर विकास कर सकता है। महात्मा गांधीजी के सर्वधर्म-समभाव, सद्भावना, एकता, अहिंसा एवं स्वराज की उनकी अवधारणा आज के संदर्भ में अधिक उपयोगी है।
पद यात्रा को सफल एवं प्रभावी बनाने के लिए प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष श्री सुरेन्द्र सिंह ठाकुर (पूर्व सांसद) को यात्रा का प्रभारी समन्वयक मनोनीत किया गया है। श्री ठाकुर 15 अक्टूबर से 17 अक्टूबर तक श्योपुर, शिवपुरी, गुना, अशोकनगर, सागर और विदिशा में आयोजित पदयात्रा में शामिल होंगे, वे उसी दिन भोपाल पहुंचेंगे।
प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष संगठन प्रभारी श्री चन्द्रप्रभाष शेखर ने बताया कि यह 365 दिन की पदयात्रा भारत सहित 10 देशों में आयोजित होगी, जिसकी शुरूआत बीते 2 अक्टूबर से राजघाट से हो चुकी है। भारत में कुल 121 दिन की पदयात्रा में 90 दिन म.प्र. में पदयात्रा होगी। बीते 11 अक्टूबर से म.प्र. में जौरा जिला मुरैना से पद यात्रा शुरू हो चुकी है तथा 11 जनवरी 2020 को बालाघाट जिले के रजेगांव होते हुए महाराष्ट्र में प्रवेश करेगी। म.प्र. में पदयात्रा के मार्ग में श्योपुर, मुरैना, ग्वालियर, शिवपुरी, सागर, अशोकनगर, गुना, विदिशा, सीहोर, रायसेन, भोपाल, हरदा, होशंगाबाद, नरसिंहपुर, बैतूल, छिंदवाड़ा, सिवनी व बालाघाट जिले शामिल है।
श्री कमलनाथ जी के निर्देशानुसार प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष संगठन प्रभारी श्री चन्द्रप्रभाष शेखर ने उपरोक्त जिलों के जिला कांग्रेस अध्यक्षों को एकता परिषद की इस यात्रा में उस जिले के अधिक से अधिक कांग्रेस कार्यकर्ताओं को शामिल करने का अनुरोध किया है। श्री नाथ ने उपरोक्त जिले के जिला प्रभारी मंत्रियों से भी कहा है कि इस पद यात्रा की व्यवस्था में उचित सहयोग करें।

अतिवृष्टि व बाढ़ पर राजनीति करने वाली भाजपा देख ले
कमलनाथ सरकार की नीति व नीयत
बाढ़ प्रभावित इलाकों के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने आज
दौरे के दौरान राहतो की झड़ी लगा दी: नरेंद्र सलूजा

23 September 2019
भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कहा कि प्रदेश में हुई अतिवृष्टि व बाढ़ पर, राहत में हाथ बंटाने की बजाय, प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह व भाजपा निरंतर नौटंकी कर रहे थे, लगातार कमलनाथ सरकार को कोसने का काम कर रहे थे, प्रभावित लोगों को राहत प्रदान करने की बजाय उन्हें भड़काने का काम कर रहे थे।मुख्यमंत्री की अपील के बाद भी संकट कि इस घड़ी में प्रभावित परिवारों को राहत प्रदान करने की बजाय, राजनीतिक रोटी सेक रहे थे।
वह शिवराज जी व भाजपा यह देख ले कि आज मुख्यमंत्री कमलनाथ जी के मंदसौर-नीमच दौरे के बाद सरकार की नीति व नियत स्पष्ट हो गई है। मुख्यमंत्री ने इन इलाकों में प्रभावित परिवारों के लिए राहतों की झड़ी लगा दी है। सलूजा ने बताया कि आज तक के इतिहास में कभी भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के लिए इतनी तत्परता से ना राहत के काम हुए हैं और ना राहतों की घोषणा हुई है। भाजपा सरकार में बेमौसम बरसात व ओला के समय तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह अपनी जिम्मेदारी से भाग, पूरे मंत्री मंडल को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ राहत पेकेज को लेकर धरने पर बैठ गए थे।
मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने आज जिस प्रकार से मंदसौर व नीमच के दौरे में स्पष्ट किया है कि हमने प्राकृतिक आपदा से निपटने के लिए केंद्र सरकार से सहायता राशि की मांग की है लेकिन सहायता मिले या ना मिले राज्य सरकार आपकी सहायता के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेगी। चाहे महत्वपूर्ण कार्य के बजट में कटौती क्यों न करनी पड़े। प्रभावित किसानों को 8000/- रू. प्रति हेक्टेयर से लेकर 30,000/- रू प्रति हेक्टर तक प्रावधान के अनुसार मुआवजे की घोषणा करते हुए प्रशासन के अधिकारियों को उन्होंने निर्देश दिए कि सभी प्रभावित किसानों के खाते में 15 अक्टूबर तक यह राशि पहुंच जाना चाहिए।
प्रत्येक बाढ़ पीड़ित परिवार को तत्काल 50-50 किलो अनाज उपलब्ध कराने के भी उन्होंने निर्देश दिए हैं।साथ ही अगले 6 माह तक पीड़ित परिवार के प्रत्येक सदस्य के लिए प्रतिमाह 5 किलो खाद्यान्न उपलब्ध कराने के भी उन्होंने निर्देश दिए हैं। क्षतिग्रस्त मकानों के लिए प्रति मकान एक लाख रुपये की सहायता देने के भी निर्देश उन्होंने दिए हैं और जो लोग बेघर हो गए हैं, जिनके मकान पूरी तरह नष्ट हो गए हैं, उन्हें मुख्यमंत्री आवास योजना में शामिल कर, मकान बनाने के लिए डेढ़ लाख रुपए तक की राशि सरकार की ओर से देने की भी उन्होंने घोषणा की है।
 वहीं मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने पशुओं की मृत्यु पर 3 हजार से लेकर 30 हजार तक की राशि देने के भी उन्होंने निर्देश दिये है। बाढ़ प्रभावित मंदसौर व नीमच इलाके में सरकारी एवं ग्रामीण बैंक के 2 लाख तक के फसल कर्ज अगले 15 अक्टूबर तक माफ करने के भी मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं। फसल बीमा को लेकर शीघ्र मुआवजा क्लेम की कार्रवाई सुनिश्चित कराने के भी निर्देश मुख्यमंत्री ने दिए हैं। रबी की फसल के लिये उच्च गुणवत्ता वाले बीज किसान भाइयों को सरकार उपलब्ध कराएगी।
बाढ़ की विपदा को देखते हुए बिजली बिलों के संबंध में भी राहत देने का मुख्यमंत्री ने फैसला लिया है।नया सवेरा योजना की पात्रता में आने वाले परिवारों के 3 माह के बिजली के बिल की प्रतिपूर्ति सरकार करेगी व इस योजना की पात्रता में नहीं आने वाले प्रभावित परिवारों की विद्युत बिल की प्रति परिवार 1 हजार की राशि भी सरकार उनके खाते में पहुंचाएगी। बारिश में खराब हुई सड़कों और पुलों की भी शीघ्र मरम्मत करने के मुख्यमंत्री ने निर्देश इस दौरे पर दिये है। मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने प्रभावित परिवारों के लिये आज राहतों की झड़ी लगा दी है।वही भाजपा इस मामले पर सिर्फ राजनीति करती रही। यह कांग्रेस और भाजपा में अंतर है।

हनी ट्रैप खुलासे पर भाजपा को साँप क्यों सूँघ गया है, क्यों तमाम बड़े भाजपा नेताओ ने इस मामले में मौन धारण कर रखा है ?
सीबीआई जांच की पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा की मांग, व्यापामं जैसा इस मामले का हश्र करना तो नहीं है: नरेंद्र सलूजा
23 September 2019
भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष व मुख्यमंत्री के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने बताया कि पिछले दिनों उजागर हुए हनी ट्रैप मामले पर तमाम भाजपा नेताओं ने चुप्पी साध रखी है , ऐसा लग रहा है कि इस खुलासे के बाद उनको सांप सूंघ गया है, कोई भी बड़ा भाजपा नेता इस मामले पर मुंह खोलने को तैयार नहीं है, सभी ने मौन धारण किया हुआ है। अब तो यह स्पष्ट भी हो चुका है कि इस कांड की एक आरोपी महिला भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा की कार्यसमिति की सदस्य रही है, जिम्मेदारी वाले पद पर वो वर्षों तक रही है। तमाम भाजपा नेताओ के नाम इस मामले में उछल रहे है। भाजपा नेताओ के मौन के पीछे लगता है, यही कारण है। सलूजा ने बताया कि आज पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा इस पूरे मामले को सीबीआई को सौंपने की मांग कर रहे हैं। ऐसा लगता है कि सीबीआई को जाँच सौंप कर इस कांड का भी वो व्यापम जैसा हश्र करवाना चाहते हैं। क्योंकि सभी को पता है दिल्ली में किसकी सरकार है, सीबीआई किसके अधीन है और क्यों नरोत्तम मिश्रा इस तरह की बात कर रहे हैं? उन्हें तो यह मांग करना चाहिए इस कांड में जिस भी नेता का नाम सामने आ रहा है, उसका खुलासा हो, उसके ऊपर कड़ी से कड़ी कार्रवाई हो लेकिन वे ध्यान भटकाने के लिए इस तरह की बातें कर रहे हैं। कमलनाथ सरकार में ही पिछले कई वर्षों से चल रहे इस मामले का खुलासा हुआ है। कमलनाथ सरकार में ही इस कांड की निष्पक्ष जांच हो रही है। इसमें दोषी एक-एक शख्स को बख्शा नहीं जाएगा, चाहे वह छोटा हो या बड़ा, सभी पर एक समान कार्रवाई होगी। कमलनाथ सरकार में ही वर्षों से चल रहे इस कांड का खुलासा हुआ है, इससे समझा जा सकता है कि सरकार इस कांड को लेकर कितनी गंभीर है और उसके दोषियों पर कार्रवाई को लेकर भी कितनी गंभीर है।
कांग्रेस पार्टी के आगामी कार्यक्रमों व प्रदर्शनों की रूप रेखा तय करने हेतु, कांग्रेस की महत्वपूर्ण बैठक 20 सितंबर को भोपाल के मानस भवन में आयोजित होगी: शोभा ओझा
19 September 2019
भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा ने आज जारी अपने वक्तव्य में बताया कि भारत में छाई आर्थिक मंदी, महंगाई और बेरोजगारी को लेकर पूरी तरह से विफल मोदी सरकार के विरूद्ध आंदोलन/ प्रदर्शन करने की रणनीति, महात्मा गांधी की 150 वीं और श्री राजीव गांधी की 75 वीं जयंती आदि विषयों पर, कार्यक्रमों की रूपरेखा तय करने हेतु अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्यगणों, जिला/ शहर कांग्रेस के अध्यक्षगणों एवं कांग्रेस के सभी प्रदेश पदाधिकारियों की एक आवश्यक बैठक भोपाल के मानस भवन में कल दिनांक 20 सितंबर 2019 को दोपहर 12 बजे रखी गई है। इस अवसर पर प्रदेश के मुुख्यमंत्री व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री कमलनाथ जी सभी पदाधिकारियों को आवश्यक मार्गदर्शन देंगे।

प्रदेश में भीषण प्राकृतिक आपदा
ऐसी संकट की घड़ी में राहत में हाथ बंटाने की बजाए भाजपा
राजनैतिक रोटियां सैंकने के लिये धरना प्रदर्शन कर रही है
एक तरफ भाजपा कार्यकर्ताओं से मदद की अपील कर रही है, वही
दूसरी ओर धरना प्रदर्शन करने के निर्देश भी दे रही है, यही है भाजपा का दोहरा चरित्र: नरेन्द्र सलूजा

19 September 2019
भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने बताया कि प्रदेश में भीषण प्राकृतिक आपदा से जन-जीवन अस्त-व्यस्त है। भाजपा राहत में हाथ बंटाने के बजाए राजनैतिक रोटियां सैंकने के लिये धरना-प्रदर्शन कर रही है। भाजपा एक तरफ तो राहत में हाथ बंटाने की अपील कर रही है, वही दूसरी तरफ कार्यकर्ताआंे को धरना देने के लिये निर्देश दे रही है, यह भाजपा का दोहरा चरित्र है।
सलूजा ने कहा कि प्रदेश के लाखों किसानों की फसलें बर्बाद हो गई हैं, लोगों के मकान बह गये हैं और लोग बेघर हो गये हैं। ऐसे संकट के समय में किसानों पर दुःखों का पहाड़ टूट पड़ा है। प्रदेश सरकार सभी किसान भाईयों के साथ दुःख की इस घड़ी में उनके साथ खड़ी हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने प्रदेश की जनता, स्वयंसेवी संगठनों, सामाजिक संस्थाओं व राजनैतिक दलों से अपील की है कि संकट की इस घड़ी में वे पीड़ित-प्रभावित परिवारों के साथ खडे़ होकर उनकी मदद करें। सलूजा ने कहा कि संकट की इस घड़ी में पीड़ित और प्रभावितों को सहयोग करने की मुख्यमंत्री की अपील के बावजूद भाजपा द्वारा किया जा रहा आंदोलन व धरना-प्रदर्शन उसके दोहरे चरित्र को उजागर करता है। भाजपा के राज में किसान हमेशा छला ही गया है। भाजपा सरकार ने किसानों पर गोलियां चलवायीं व लाठियां बरसाईं हैं, वहीं प्रदेश की जनता अभी भूली नहीं है कि 6 जून 2017 को किसानों पर मंदसौर में गोलियां दागी गई, टीकमगढ़ में किसान भाइयों को नंगा करके उनकी थाने में पिटाई करायी, रायसेन में किसानों के साथ सड़कों पर खूले आम अत्याचार हुआ। भाजपा राज में 21 हजार किसानों ने आत्महत्या की। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह भले ही चिल्लाते रहे कि वे खेती को लाभ का धंधा बनाएंगे, लेकिन वास्तव में उनके राज में खेती घाटे का धंधा बन गई थी, यही वजह थी कि किसान निरंतर आत्महत्या कर रहे थे।
सलूजा ने कहा कि भाजपा किस मूंह से किसानों के हित की बात कर रही है। उनको तो किसानों की तनिक भी चिंता नहीं है, वे इस आंदोलन से अपना शक्ति प्रदर्शन कर रहे हैं। एक तरफ तो भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह 20 सितम्बर को धरने की बात करते हैं, वहीं शिवराज सिहं 22 तारीख को प्रदर्शन की बात करते हैं। इन सब से परे विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव विधानसभा का विशेष सत्र लाने की बात कह रहे हैं। इससे एक बात तो साफ हैं कि भाजपा को किसानों की चिंता नहीं, सिर्फ इस मुददे पर वह अपना शक्ति प्रदर्शन करना चाहते हैं।
सलूजा ने कहा कि प्रदेश की कमलनाथ सरकार किसानों के हित के लिये निरंतर कार्य कर रही है और उन्हें हर सम्भव मदद पहुंचाने के लिए कृत संकल्पित हैं।

मृत बच्चों के परिवारों के बीच पहुंचे प्रदेश अध्यक्ष
पीड़ित परिवार को 25 लाख की सहायता
और एक सदस्य को नौकरी दे सरकार: राकेश सिंह
जिम्मेदार अधिकारियों को बचाना और नाविकों पर कार्यवाही करना उचित नहीं

13 September 2019
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने गणेश विसर्जन के दौरान 11 बच्चों की डूबने से हुई मौत पर गहरा दुख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा है कि यह अक्षम्य प्रशासनिक लापरवाही है, जिसके लिए जिम्मेदार अधिकारियों को दंडित किया जाना चाहिये। साथ ही साथ श्री राकेश सिंह ने पीड़ित परिवारों के सदस्यों को सरकारी नौकरी और कम से कम 25 लाख राहत राशि की मांग मुख्यमंत्री कमलनाथ से की है।
उन्होंने पीड़ित परिवारों के बीच पहुंचकर शोक संवेदना व्यक्त की और कहा कि जिन परिवारों के बच्चे इस दुनिया से चले गए हैं,उनके दुख को किसी प्रकार से कम नहीं किया जा सकता। लेकिन उन परिवारों के भविष्य के जीवनयापन के लिए सरकार को समुचित व्यवस्थाएं तुरंत सुनिश्चित करना चाहिए।
भारतीय जनता पार्टी इस दिशा में पीड़ित परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी, 25 लाख रूपए राहत राशि की मांग करती है। उन्होंने मुख्यमंत्री द्वारा घोषित की गई राशि पर गहरा असंतोष व्यक्त किया है।
श्री सिंह ने कहा है कि सरकार को नोनिहालों की जान से अधिक परहवाह उन अधिकारियों को बचाने की है जो इस दर्दनाक घटना के लिए पूरी तरह जिम्मेदार हैं। दुर्भाग्य से सरकार उन नाविकों के विरूद्ध कार्यवाही कर रही है, जिन्होंने अपनी जान की वाजी लगाकर तमाम सारे बच्चों को बचाने का प्रयास किया। वहीं दूसरी तरफ उन अधिकारियों को बचा रही है, जिन्हें सुरक्षा के पुख्ता इंतजामों को अंतिम रूप देना चाहिए था। नाविकों के विरूद्ध कार्यवाही सरकार का ऐसा कदम है, जिससे भविष्य में कोई किसी की मदद के लिए आगे नहीं आएगा। उन्होंने घटना की उच्च स्तरीय जांच की मांग की।

कमलनाथ सरकार द्वारा मात्र 9 माह में किये गये ऐतिहासिक जनहितैषी कार्यों व निर्णयों से व अपनी पार्टी की आंतरिक गुटबाजी से गहरी नींद में सो चुके भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं को जगाने के लिये,
भाजपा ने आज 24 घंटे जाग रही कमलनाथ सरकार को जगाने का झूठा नाम देकर प्रदेश में घंटा बजाओ आंदोलन किया: नरेन्द्र सलूजा
11 September 2019
भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कहा है बढ़ा ही आश्चर्यजनक है कि जो कमलनाथ सरकार 24 घंटे जाकर निरंतर प्रदेश के विकास को लेकर काम कर रही है, प्रदेश की दशा-दिशा बदलने में लगी है, अपने वचन पत्र के एक-एक बिंदु को पूरा करने में लगी है, प्रदेश को विकास की दृष्टि से सर्वश्रेष्ठ प्रदेश बनाने में लगी है, पिछली भाजपा सरकार के दाग धोने में लगी है, उसके खिलाफ बगैर किसी मुद्दे पर, उसे जगाने का झूठा नाम देकर भाजपा ने आज घंटा बचाओ आंदोलन किया? जबकि इसके पीछे वास्तविकता व सच्चाई यह है कि कमलनाथ सरकार द्वारा मात्र 9 माह में ही किये गये ऐतिहासिक कार्यों व जन हितेषी निर्णयों से प्रदेश में भाजपा नेता व कार्यकर्ता गहरी नींद में सो चुके हैं, पार्टी की आंतरिक गुटबाजी ने उन्हें निष्क्रिय बना दिया है, उन्हें गहरी नींद से जगाने के लिये, बगैर किसी मुद्दे के आज भाजपा ने घंटा बचाओ आंदोलन किया।
सलूजा ने कहा कि प्रदेश की जनता भलीभांति जानती है कि 15 वर्ष की सरकार में भाजपा के लोग किस प्रकार से कुंभकर्णीय नींद में सोये रहे, किस प्रकार से जनता की उन्होंने निरंतर अनदेखी की, किस प्रकार उनके 15 वर्ष के शासनकाल में महिला दुष्कर्म, किसानों की आत्महत्या, रोजगार के अभाव में युवाओं की आत्महत्या, कुपोषण अपराध, अवैध उत्खनन आदि मुद्दों में प्रदेश, देश में शीर्ष पर रहा।
कमलनाथ सरकार अपने 9 माह के कार्यकाल में इन पापों के दाग को धोने में लगी रही। इन 9 माह में ही सरकार ने किसानों की कर्ज माफी से लेकर, युवाओं को रोजगार देने, पिछड़े वर्ग को 27 प्रतिशत आरक्षण देने, महिलाओं के सम्मान व सुरक्षा व हर वर्ग की भलाई को लेकर व कई महत्वपूर्ण निर्णय लिये। ऐसे में भाजपा का आज का आंदोलन बेबुनियाद है। जो खुद अपनी सरकार में 15 वर्ष सोये रहे, वो आज किस मुँह से 24 घंटे जाग रही कमलनाथ सरकार को जगाने का झूठा नाम देकर आंदोलन कर रहे है।
कमलनाथ सरकार के कार्यों व ऐतिहासिक जनहितैषी निर्णयों से भाजपा नेता व कार्यकर्ता गहरी नींद में सो चुके है। अब ये वर्षों नहीं उठ पायेंगे। भाजपा इन्हें जगाने के लिये, कितने भी घंटे-घड़ियाल बजा ले, ये उठने वाले नहीं है। कमलनाथ सरकार के कामों ने इनको गहरी नींद में सुला दिया है। जब तक प्रदेश में कमलनाथ जी है, भाजपा गहरी नींद से कभी उठ नहीं पायेगी।

लूट, अराजकता, वादाखिलाफी, भ्रष्टाचार में डूबी कमलनाथ सरकार के खिलाफ प्रदेश भर में जोरदार ‘घंटानाद’ भोपाल में राकेश सिंह, विदिशा में शिवराज सिंह, जबलपुर में गोपाल भार्गव, इंदौर में नंदकुमारसिंह चैहान, सागर में प्रभात झा, ग्वालियर में भूपेन्द्र सिंह, उज्जैन में विक्रम वर्मा के नेतृत्व में सड़कों पर उमड़े हजारों कार्यकर्ता 11 September 2019
भोपाल। कांग्रेस की कमलनाथ सरकार की अराजकता वादाखिलाफी और धोखाधड़ी के कारण पूरे प्रदेश में जनता त्राहि-त्राहि कर रही है। किसान कर्जमाफी के लिए भटक रहे है, युवा बेरोजगारी भत्ते की राह देख रहा है, भारी वर्षा से नष्ट हुई फसलों की कोई सुध लेने वाला नहीं है, बिजली कटौती भारी पैमाने पर की जा रही है, कानून व्यवस्था की धज्जियां उड़ा दी गयी है, प्रदेश लूट, डकैती, हत्या और बलात्कार जैसी विभीषिका में उलझ गया है। लेकिन सरकार सिर्फ भ्रष्टाचार और तबादलों में व्यस्त है। इन सभी मुद्दों को लेकर आज भारतीय जनता पार्टी ने प्रदेशव्यापी घंटानाद आंदोलन किया। प्रदेश के सभी जिलों में एक साथ हजारों हजार कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट पर कूच करते हुए घंटे, घड़ियाल, शंख, मंजीरा बजाते हुए कंुभकर्णी नींद में सोई सरकार को जगाने के लिए जबरदस्त प्रदर्शन किया। भोपाल में प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह ने स्वयं कार्यक्रम का नेतत्व किया। विदिशा में पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान, जबलपुर में नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव, सागर में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री प्रभात झा, इंदौर में श्रीमती सुमित्रा ताई महाजन, श्री नंदकुमारसिंह चैहान, उज्जैन में श्री विक्रम वर्मा, ग्वालियर में श्री भूपेन्द्र सिंह सहित सभी जिलों में वरिष्ठ नेताओं ने आंदोलन की कमान संभाली।
भोपाल में प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह के नेतृत्व में महापौर श्री आलोक शर्मा, प्रदेश उपाध्यक्ष श्री रामेश्वर शर्मा, विधायक श्री विश्वास सारंग, जिलाध्यक्ष श्री विकास विरानी सहित हजारों कार्यकर्ताओं ने भोपाल कलेक्ट्रेट की ओर कूच किया। सरकार ने भारी पुलिस बल के दम पर आंदोलन को कुचलने का प्रयास किया, लेकिन घंटा, घडियाल की जोरदार गंूज करते हुए कार्यकर्ताओं का उत्साह आसमान पर था। प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह ने आगे बढ़कर स्वयं पुलिस का बैरिकेट तोड़ा तो उनके साथ-साथ भारी मात्रा में कार्यकर्ताओं ने भी बैरिकेट्स पर चढकर पुलिस के इंतजामों को धत्ता बताते हुए आगे कूच किया। बाद में पुलिस ने आंदोलनकारियों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस सभी कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी की व्यवस्था नहीं कर सकी, क्योंकि वह सिर्फ दो बसें लेकर आंदोलन स्तर पर पहंुची थी। इससे साफ होता है कि सरकार को भी ऐसे प्रचंड आंदोलन का अनुमान नहीं था।
गिरफ्तारी देते हुए प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह ने कहा कि प्रदेश की कमलनाथ सरकार लोकतंत्र की हत्या करने पर आमादा है। यह सरकार विरोध में उठने वाली हर आवाज को दबाना चाहती है। लेकिन हम ना दबाव में आएंगे और ना रुकेंगे। विरोध का हमारा सिलसिला जारी रहेगा। मध्यप्रदेश सरकार कंुभकर्णी नींद में सो रही है। उसकी नींद को तोडने के लिए, मध्यप्रदेश की जनता को न्याय दिलाने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने घंटानाद आंदोलन किया।
भोपाल में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह के नेतृत्व में कलेक्टर कार्यालय के सामने घंटानाद कर लगभग सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने गिरफ्तारी दी। इस अवसर पर पार्टी के महापौर श्री आलोक शर्मा, प्रदेश उपाध्यक्ष श्री रामेश्वर शर्मा, विधायक श्री विश्वास सारंग, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेन्द्र पाराशर, प्रदेश प्रवक्ता श्री राहुल कोठारी, जिलाध्यक्ष श्री विकास विरानी, श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, श्री राम बंसल, श्री सुमित पचैरी, श्री अंशुल तिवारी सहित पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे। विदिशा में पूर्व मुख्यमंत्री एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री शिवराजसिंह चैहान के नेतृत्व में भारी संख्या में कार्यकर्ताओं ने घंटानाद किया। भीषण बारिश के बावजूद हजारों कार्यकर्ता विदिशा की सड़कों पर उमडे। आंदोलन से पूर्व श्री शिवराजसिंह चैहान ने गणेशजी की आराधना करते हुए कमलनाथ सरकार को सदबुद्धि देने की प्रारंभ की, तत्पश्चात आंदोलन प्रारंभ किया। उन्होंने कहा कि कमलनाथ की सरकार गले तक भ्रष्टाचार में डूबी हुई है। ट्रांसफर और अवैध खनन में व्यस्त सरकार को जनहित की कोई चिंता नहीं है। लेकिन एक जिम्मेदारी विपक्ष होने के नाते भारतीय जनता पार्टी इसे चुपचाप नहीं देख सकती। हम प्रदेश में लूट डकैती, अराजकता और भ्रष्टाचार को बंद कराकर ही दम लेंगे। श्री शिवराजसिंह चैहान के साथ श्री रमाकांत भार्गव, जिलाध्यक्ष श्री राकेश जादौन सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।
जबलपुर में नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव के नेतृत्व में घंटानाद आंदोलन की शुरूआत की गई एवं कलेक्टरेट का घेराव कर गिरफ्तारी दी। कलेक्टर परिसर के अंदर अधिवक्ताओं ने घंटा शंख बजाकर आंदोलन किया। श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि सोई सरकार को जागने के लिए घंटानाद आंदोलन किया है। कमलनाथ सरकार 9 माह में 9 नौजवानो को भी रोजगार नही दे पायी। प्रदेश में भ्रष्टाचार चरम पर है। प्रदेश के मंत्री छोटे काम के लिए लिफाफे और बड़े काम के लिए सूटकेस ले रहे है। प्रदेश में अपहरण उद्योग बन गया है और 9 माह में तबादला को उद्योग बना दिया है। विधायक मंत्री पर एक-दूसरे पर आरोप लगा रहे हंै। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री अलग सरकार चला रहे है। आज पूरे प्रदेश में अराजकता की स्थिति है। इस अवसर पर जिला अध्यक्ष जीएस ठाकुर, ग्रामीण अध्यक्ष ओमप्रकाश पटेल, वरिष्ठ विधायक अजय विश्नोई, अशोक रोहाणी, सुशील तिवारी इंदु, अंचल सोनकर, हरेंद्रजीत सिंह बब्बू, महापौर डॉ स्वाति गोडबोले, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती मनोरमा पटेल, डॉ जितेंद्र जामदार श्रीमती प्रतिभा सिंह अनिल शर्मा आनंद बर्नाड के साथ हजारों कार्यकर्ताओं के साथ दी गिरफ्तारी। पुलिस ने पानी की बौछारकर कार्यकर्ताओ को रोकने का किया प्रयास।
सागर में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री प्रभात झा के नेतृत्व में हजारों की संख्या में कार्यकर्ताओं ने घंटानाद करके कलेक्टर कार्यालय का घेराव किया। इस अवसर पर श्री प्रभात झा ने कहा कि भारत को अखंड करने की ताकत हमारी पार्टी रखती है तो कमलनाथ सरकार को हटाने की ताकत भी भाजपा रखती है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के निर्णयों पर पूरा देश स्वतंत्रता दिवस जैसी खुशी में झूम जाता है। वहीं प्रदेश की कमलनाथ सरकार कुंभकर्णी नींद में सोई हुई है। उन्होंने कहा कमलनाथ सरकार प्रदेश की जनता के हित के निर्णय लेने की बजाय श्री शिवराज सिंह चैहान द्वारा चलायी गयी लोक कल्याणकारी योजनाओं को बंद करने का काम कर रही है। जो सरकार लाडली लक्ष्मी के जन्म के पैसे छीन ले, मृत्यु के पैसे देने से इंकार कर दे ऐसी सरकार को सत्ता में रहने का अधिकार नहीं है। आंदोलन को सांसद राजबहादुर सिंह, विधायक शैलेन्द्र जैन, जिला अध्यक्ष प्रभुदयाल पटेल, सुशील तिवारी, श्याम तिवारी, विक्रम सोनी ने संबोधित किया। इस अवसर पर पूर्व सांसद लक्ष्मीनारायण यादव, महेश राय, अनुराग प्यासी, शैलेष केशरवानी, सुशील तिवारी, अभिषेक भार्गव, लक्ष्मण सिंह, अशोक बामोरा, राजैश सैनी, प्रदीप राजौरिया, वैभवराज कुकरेले, श्याम तिवारी, नवीन भट्ट, रामकुमार साहू, विक्रम सोनी, नितिन बंटी शर्मा, सुखदेव मिश्र, जगन्नाथ गुरैया, गौरव सिरोठिया, रामेश्वर नामदेव, डाॅ. ओ.पी. शिल्पी, इन्दु चैधरी सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।
इंदौर में पूर्व लोकसभा अध्यक्ष श्रीमती सुमित्रा महाजन, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमारसिंह चैहान, श्री गोपीकृष्ण नेमा, श्री सुदर्शन गुप्ता श्री महेन्द्र हार्डिया, श्री आकाश विजयवर्गीय, श्री जीतू जिराती, श्री मधु वर्मा सहित 5000 से अधिक कार्यकर्ताओं ने हरसिद्धि चैक से आंदोलन प्रारंभ कर कलेक्टर कार्यालय पहंुचकर घंटानाद किया।
उज्जैन में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष श्री विक्रम वर्मा, श्री श्याम बंसल, श्री विवेक जोशी, श्री बहादुर सिंह चैहान, श्री पारस जैन, श्री अनिल फिरोजिया के नेतृत्व में मुंगी चैराहा से घंटनांद प्रारंभ होकर रैली के रूप में कलेक्टर कार्यालय का घेराव किया।
सिवनी में सांसद श्री ढालसिंह बिसेन के नेतृत्व में घंटानाद आंदोलन किया गया। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष श्री प्रेम तिवारी, पूर्व सांसद श्रीमती नीता पटेरिया, विधायक श्री राकेश पाल सिंह, श्री दिनेश राय मुनमुन, श्रीमती मीना बिसेन, श्री आरपी शुक्ला सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।
राजगढ़ में भारतीय जनता पार्टी द्वारा प्रदेश कांग्रेस की सोई सरकार को जगाने के लिए जिला मुख्यालय पर घंटानाद कार्यक्रम किया। कलेक्ट्रेट कार्यालय का घेराव कर प्रदेश सरकार की नाकामियों को गिनाया तथा ज्ञापन सौंपा। श्री आलोक संजर, सांसद श्री रोडमल नागर सहित वरिष्ठ पदाधिकारियों द्वारा गिरफ्तारी दी। प्रदेश प्रवक्ता श्री आलोक संजर ने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री वापस मुख्यमंत्री बनना चाह रहे है। जबकि वर्तमान मुख्यमंत्री अपनी कुर्सी बचाने में लगे हुए है। कांग्रेस पार्टी से सरकार संभल नहीं रही और आरोप भाजपा पर मढ़ रहे है। उन्होंने कहा कि कई कांग्रेसी विधायक भाजपा में आने को आतुर है। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष दीपक शर्मा, विधायक राज्यवर्धन सिंह, कुंवर कोठार, रघुनंदन शर्मा, नारायण सिंह पंवार, बद्रीलाल यादव, अमर सिंह यादव, हजारीलाल दांगी, गौतम टेटवाल, पूर सिंह, केदार काका, दीपेन्द्र सिंह चैहान, दिलवर यादव, दिलीप वंशकार सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।
छतरपुर में प्रदेश महामंत्री व सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा के नेतृत्व में घंटा आंदोलन जिला मुख्यालय से प्रारंभ होकर कलेक्टर कार्यालय पर संपन्न हुआ। इस अवसर पर विधायक श्री राजेश प्रजापति, जिलाध्यक्ष श्री मलखान सिंह, श्रीमती ललिता यादव सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित थे। शहडोल में प्रदेश कांग्रेस सरकार को जगाने के लिए में घंटानाद आंदोलन किया गया। जिसका नेतृत्व सांसद श्री अजय प्रताप सिंह ने किया। इस अवसर पर सांसद श्रीमति हिमाद्री सिंह, विधायक श्री जयसिंह मरावी, मनीषा सिंह, जिलाध्यक्ष इंद्रजीत सिंह छाबडा, युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष अजय सिंह बघेल सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे। उमरिया में श्री रामलाल रौतेल के नेतृत्व में घंटा आंदोलन पुराना बस स्टैंड से प्रारंभ हुआ एवं कलेक्टरेट पर सभा का आयोजन किया गया। इस अवसर पर जिला अध्यक्ष श्री मनीष सिंह, पूर्व जिला अध्यक्ष श्री राकेश शर्मा, श्री आशुतोष अग्रवाल सहित कार्यकर्ता उपस्थित थे। कटनी में आज प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अरविंद सिंह भदौरिया के नेतृत्व में लगभग एक हजार लोगों ने घंटानाद आंदोलन में भाग लिया एवं कलेक्टरेट का घेराव किया। इस अवसर पर जिला अध्यक्ष श्री पीताम्बर टोपनानी, विधायक श्री संदीप जयसवाल, विधायक श्री प्रणय पाण्डे, महापौर श्री शशांक श्रीवास्तव उपस्थित थे। खण्डवा में हजारों कार्यकर्ताओं ने घंटानाद आंदोलन के अंतर्गत सिविल लाइन स्थित पं. दीनदयाल उपाध्याय जी की प्रतिमा पर सभा उपरांत कलेक्टरेट का घेराव किया। इस अवसर जिला अध्यक्ष श्री हरीश कोटवाले, विधायक श्री देवेन्द्र वर्मा, विधायक श्री राम डांगोरे, महापौर श्री सुभाष कोठारी उपस्थित थे। अलीराजपुर में आज सुश्री उषा ठाकुर के नेतृत्व में लगभग दो हजार लोगों ने भाग लिया। पार्टी जिला मुख्यालय से कलेक्टरेट तक आंदोलन कर घेराव किया गया। इस अवसर पर जिला अध्यक्ष श्री किशोर शाह, प्रदेश प्रवक्ता श्री नागरसिंह चैहान, पूर्व विधायक माधवसिंह डाबर सहित पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे। शाजापुर में प्रदेश महामंत्री श्री बंशीलाल गुर्जर और सांसद श्री महेन्द्र सिंह सोलंकी के नेतृत्व में घंटानाद आंदोलन किया गया। इस अवसर पर श्री इंदरसिंह परमार सहित जिला पदाधिकारी, कार्यकर्ता बडी संख्या में उपस्थित थे। अनूपपुर में आज प्रदेश मंत्री श्री सरतेंदु तिवारी के नेतृत्व में इंदिरा तिराहा से प्रारंभ कर कलेक्टरेट पहुंचकर घेराव किया। इस अवसर जिला अध्यक्ष श्री ब्रजेश गौतम, पूर्व जिला अध्यक्ष श्री राधाराम वैश्य, श्री अनिल गुप्ता सहित पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।
देवास में आज श्री कृष्णमुरारी मोघे के नेतृत्व में घंटानाद आंदोलन की शुरूआत पार्टी जिला मुख्यालय से करके कलेक्टरेट का घेराव किया गया। इस अवसर पर जिला अध्यक्ष श्री नंदकिशोर पाटीदार, विधायक श्री आशीष शर्मा, श्रीमती गायत्री राजे पवार, श्री पहाड़ सिंह सहित पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे। नीमच में आज लगभग दो हजार लोगों द्वारा घंटा, शंख बजाकर घंटनाद आंदोलन का प्रारंभ रोटरी क्लब के सामने से किया गया एवं कलेक्टरेट का घेराव किया गया। इस अवसर पर जिला अध्यक्ष श्री हेमंत हरित, विधायक श्री माधव मारू, विधायक, श्री दिलीप परिहार, श्री ओमप्रकाश सखलेचा सहित पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे। मुरैना में श्री उमाशंकर गुप्ता के नेतृत्व में घंटानाद आंदोलन की शुरूआत नगरनिगम कार्यालय से हुई एवं कलेक्टरेट पहुंचकर घेराव किया गया। इस अवसर पर जिला अध्यक्ष श्री केदार सिंह यादव, पूर्व मंत्री श्री रूस्तम सिंह, पूर्व विधायक श्री शिव मंगल सिंह तोमर, श्री गजराजसिंह सिकरवार, महापौर श्री अशोक अर्गर, श्री अनिल गोयल सहित पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।
भिण्ड में घंटानाद आंदोलन श्री वेद प्रकाश शर्मा के नेतृत्व में भिण्ड किले से प्रारंभ होकर कलेक्टरेट पहुंचकर घेराव किया। इस अवसर पर जिला अध्यक्ष नाथूसिंह गुर्जर, पूर्व जिलाध्यक्ष श्री संजीव कांकर, श्री अवधेश सिंह कुशवाह, श्री राजेन्द्र शर्मा सहित पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे। रायसेन में सांसद श्री रमाकांत भार्गव के नेतृत्व में महामाया चैक से आंदोलन प्रारंभ होकर कलेक्टर परिसर पहंुचा। इस अवसर पर पूर्व मंत्री श्री रामपाल सिंह, श्री सुरेन्द्र पटवा, जिलाध्यक्ष श्री महेन्द्र चैहान, श्री गौरीशंकर शेजवार सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे। दतिया में सांसद श्रीमती संध्या राय के नेतृत्व में लगभग एक हजार लोगों ने किला चैक से घंटानाद आंदोलन की शुरूआत की एवं कलेक्टरेट पहुंचकर घेराव किया। इस अवसर पर श्री जयभान सिंह पवैया, जिला अध्यक्ष श्री सुरेन्द्र बिदोलिया, पूर्व जिलाध्यक्ष श्री विक्रम सिंह बंुदेला, श्री माधवेन्द्र सिंह परिहार, श्री अशोक सिंह यादव सहित पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे। ग्वालियर में कुंभकर्णी नींद में सो रही प्रदेश सरकार को जगाने के लिए घंटानाद आंदोलन का नेतृत्व पूर्व मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने किया। आंदोलन की शुरूआत जिला न्यायालय से प्रांरभ होकर कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर घेराव किया। इस अवसर पर ग्वालियर सांसद विवेक नारायण शेजवलकर, विधायक श्री भारतसिंह कुशवाह, पूर्व मंत्री श्री नारायण सिंह कुशवाह, जिला अध्यक्ष श्री देवेश शर्मा, श्री वीरेन्द्र जैन, श्री अभय चैधरी सहित पदाधिकारी एवं कार्यकर्तागण उपस्थित थे। श्योपुर में श्री जयसिंह कुशवाहा के नेतृत्व में आज घंटानाद आंदोलन की शिरूआत जिला मुख्यालय से हुई एवं कलेक्टरेट पहुंचकर घेराव किया गया। इस अवसर पर श्री वेदप्रकाश राजोरिया, जिला अध्यक्ष डाॅ. गोपाल आचार्य, विधायक श्री सीताराम आदिवासी, पूर्व जिला अध्यक्ष श्री महावीर सिंह सिसोदिया, श्री रामलखन नापाखेडली सहित पदाधिकारी एवं कार्यकर्तागण उपस्थित थे।
शिवपुरी में श्रीमती यशोधरा राजे के नेतृत्व में घंटानाद आंदोलन की शुरूआत तात्याटोपे समाधी स्थल से कर कलेक्टरेट पहुंचकर घेराव किया गया। इस अवसर पर जिला अध्यक्ष श्री सुशील रघुवंशी, श्री राजेश दुबे, विधायक श्री वीरेन्द्र रघुवंशी, पूर्व विधायक श्री ओमप्रकाश खटिक सहित पदाधिकारी एवं कार्यकर्तागण उपस्थित थे। गुना में सांसद श्री केपी यादव के नेतृत्व में घंटानाद करते हुए कलेक्टर कार्यालय पहंुचकर घेराव किया। इस अवसर पर विधायक श्री गोपीलाल जाटव, जिलाध्यक्ष श्री गजेन्द्रसिंह सिकरवार सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्ािित थे। अशोकनगर में प्रदेश उपाध्यक्ष श्री प्रदीप लारिया, सांसद श्री केपी यादव के नेतृत्व में घंटानाद आंदोलन गांधी पार्क से प्रारंभ होकर कलेक्टर कार्यालय पहंुचा। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष श्री धर्मेन्द्र रघुवंशी सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे। सतना में सांसद गणेश सिंह के नेतृतव में घंटानाद आंदोलन किया गया। कांग्रेस भगाओ प्रदेश बचाओ के नारों के साथ कलेक्टर कार्यालय का घेराव किया गया। इस अवसर पर विधायक विक्रम सिंह, रामखेलावन पटेल, महापौर ममता पांडेय, पूर्व विधायक शंकरलाल तिवारी, जिलाध्यक्ष नरेन्द्र त्रिपाठी, पंडित रामदास मिश्रा सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे। सीधी में सांसद रीति पाठक के नेतृत्व में लगभग 2000 कार्यकर्ताओं के साथ कलेक्ट्रेट कार्यालय पर घंटनाद आंदोलन किया गया। इस अवसर पर जिला पदाधिकारी, कार्यकर्ता बडी संख्या में उपस्थित थे।
मंडला में सांसद श्री कैलाश सोनी, श्रीमती संपतिया उइके, श्री देवी सिंह सैयाम, जिलाध्यक्ष श्री रतन सिंह ठाकुर सहित 500 कार्यकर्ताओें ने कलेक्टर कार्यालय का घेराव किया। हरदा में पूर्व मंत्री श्री कमल पटेल के नेतृत्व में घंटानाद आंदोलन किया गया। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष श्री अमर सिंह मीणा, विधायक श्री संजय शाह, श्री सुरेन्द्र जैन, श्री देवी सिंह सांखला, श्री रमेश पटेल सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे। बैतूल में सांसद श्री हेमंत खण्डेलवाल के नेतृत्व में घंटानाद आंदोलन किया गया। इस अवसर पर श्री दुर्गादास उइके, राष्ट्रीय मंत्री श्रीमती ज्योति धुर्वे, जिलाध्यक्ष श्री बसंत माकोडे, विधायक श्री योगेश पण्डागरे सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे। रतलाम में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष श्री सत्यनारायण जटिया के नेतृत्व में घंटानाद आंदोलन फव्वारा चैका से प्रारंभ होकर कलेक्टर कार्यालय पहंुचा। इस अवसर पर श्री चेतन कश्यप, श्री राजेन्द्र पाण्डे, श्री दिलीप मकवाना, जिलाध्यक्ष श्री राजेन्द्र सिंह सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।
बालाघाट में श्री गौरीशंकर बिसेन के नेतृत्व में घंटानांद आंदोलन जिला कार्यालय से प्रारंभ होकर कलेक्टर कार्यालय पहंुचा। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष श्री रमेश रंगलानी, श्री रमेश भटेरे, डाॅ. योगेन्द्र निर्मल, श्री भगत नेताम सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे। सीहोर में पूर्व मंत्री श्री नरोत्तम मिश्रा, श्री रघुनाथ भाटी, श्री सीताराम यादव, विधायक श्री करण सिंह वर्मा, श्री रघुनाथ मालवीय, श्री सुदेश राय सहित हजारों कार्यकर्ताओं ने बस स्टेंड से कलेक्टर कार्यालय पहंुचकर घेराव किया। बुरहानपुर में विधायक श्री यशपाल सिंह सिसौदिया, श्रीमती अर्चना चिटनीस, जिलाध्यक्ष श्री विजय गुता, महापौर श्री अनिल भोसले, सुश्री मंजू दादू, श्री मनोज तारवाला सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने कलेक्टर कार्यालय का घेराव कर घंटानाद किया। खरगौन में श्री विजय शाह, जिलाध्यक्ष श्री परसराम चैहान, श्री रंजीत सिंह डंडीर, श्री राजेन्द्र सिंह राठौर सहित 3000 से अधिक कार्यकर्ताओं ने गणेश मंदिर से घंटानाद करते हुए कलेक्टर कार्यालय का घेराव किया। दमोह में श्री जयंत मलैया के नेतृत्व में 5000 से अधिक कार्यकर्ताओं ने घंटानाद आंदोलन में शामिल हुए। इस अवसर पर विधायक श्री धर्मेन्द्र सिंह लोधी, श्री के तंतुवाय, श्री लखन पटेल, श्री दशरथ लोधी, श्रीमती सोनाबाई अहिरवार, जिलाध्यक्ष श्री देवनारायण सिंह श्रीवास्तव सहित पार्टी पदाधिकारी उपस्थित थे। पन्ना श्री विजेन्द्र प्रताप सिंह सहित 250 कार्यकर्ताओं ने घंटानाद आंदोलन में भाग लिया। इस अवसर पर सैकड़ो कार्यकर्ता उपस्थित थे। रीवा में पूर्व विधानसभा अध्यक्ष श्री सीताशरण शर्मा, सांसद श्री जनार्दन मिश्रा, विधायक श्री पंचूलाल प्रजापति, श्री दिव्यराज सिंह, श्री केपी त्रिपाठी, श्री विद्याप्रकाश श्रीवास्तव, श्री जितेन्द्र लिटोरिया सहित हजारों कार्यकर्ताओं ने घंटानाद आंदोलन में भाग लिया।
खण्डवा में जिलाध्यक्ष श्री हरीश कोटवाले के नेतृत्व में घंटानाद कार्यक्रम संपन्न हुआ। बडी संख्या में कार्यकर्ताओं ने उपस्थित होकर कलेक्टर कार्यालय का घेराव का ज्ञापन सौंपा। इस अवसर पर विधायक श्री देवेन्द्र वर्मा, श्री राम डाउन गौरे, महापौर श्री सुभाष कोठारी सहित हजारों कार्यकर्ता उपस्थित थे। टीकमगढ़ में सांसद श्री वीरेन्द्र कुमार के नेतृत्व में घंटानाद आंदोलन किया गया। इस अवसर पर डाॅ. अभयप्रताप सिंह, डाॅ. नंदकिशोर सहित जिला पदाधिकारी उपस्थित थे। उमरिया में घंटानाद आंदोलन पुराना बस स्टेण्ड से प्रारंभ होकर कलेक्टर कार्यालय का घेराव के साथ संपन्न हुआ। इस अवसर पर प्रदेश उपाध्यक्ष श्री रामलाल रौतेल, श्री मनीष सिंह, श्रीमती मिथिलेश मिश्रा, श्री अनिल गुप्ता, श्री राकेश शर्मा, श्री आशुतोष अग्रवाल, श्रीमती मीना सिंह, श्री शिवनारायण सिंह सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित थे। धार में जिलाध्यक्ष श्री राज बरफा के नेतृत्व में घंटानाद आंदोलन किया गया। इस अवसर पर बडी संख्या में कार्यकर्ताओं ने कलेक्टर कार्यालय का घेराव कर ज्ञापन सौंपा। मंदसौर में सांसद श्री सुधीर गुप्ता के नेतृत्व में सैकडो कार्यकर्ताओं ने घंटे, घड़ियाल, मंजीरे, नगाड़े बजाते हुए घंटानाद किया। आंदोलन यश नगर से प्रारंभ होकर कलेक्ट्रेट कार्यालय परिसर में पहंुचे। इस अवसर पर श्री राजेन्द्र सुराणा, विधायकगण श्री जगदीश देवडा, श्री देवीलाल धाकड, पूर्व विधायक श्री राधेश्याम पाटीदार, पूर्व जिलाध्यक्ष श्री मानसिंह माच्छोपुरिया, श्री मदनलाल राठौर, भाजपा वरिष्ठ नेता श्री मनोहरलाल जैन, श्रीमती सुषमा आर्य सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे। सिंगरौली में श्रीमती सुखप्रीत कौर, जिलाध्यक्ष श्री वीरेन्द्र गोयल, विधायक श्री रामलल्लू वैश्य, श्री सुभाश राम, श्री अमर सिंह के नेतृत्व में 5 हजार से अधिक कार्यकर्ताओं ने कलेक्टर कार्यालय का घेराव किया और गिरफ्तारियां दी।

हर वर्ग के साथ अन्याय कर रही है कांग्रेस सरकार: राकेश सिंह
कांग्रेस की सरकार में सिर्फ काला, गड़बड़झाला और घोटाला
11 September 2019
भोपाल। हम लगातार कह रहे हैं कि कांग्रेस सरकार में जो अंतरकलह है, वह पैसों की बंदरबाट के लिए है। सबको पता है कि कांग्रेस की इस सरकार में केवल काला है, गड़बड़झाला है और घोटाला है। कांग्रेस के लोग ही इस सरकार को प्रदेश में 5 साल नहीं रहने देंगे। इस सरकार ने हर वर्ग के लोगों से वादाखिलाफी की है और अन्याय कर रही है। सरकार के इसी रवैये के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी ने सड़कों पर उतरकर आंदोलन करने का निर्णय किया है। इस आंदोलन के दौरान भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता अपने घर-परिवार की चिंता छोड़कर पूरे प्रदेश में जनता की लड़ाई लड़ने के लिए सड़कों पर उतरे हैं और यह सिलसिला आगे भी जारी रहेगा। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह ने प्रदेश कार्यालय में मीडिया से चर्चा करते हुए कही।
खून के आंसू रो रहा है किसान
प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने जनता से किया हुआ एक भी वादा पूरा नहीं किया। किसानों को कागजों पर कर्जमाफी दिखाते हैं। अति वर्षा से नुकसान हुआ है। आज किसान खून के आंसू रो रहा है। हम मुख्यमंत्री कमलनाथ से तो कभी उम्मीद कर ही नहीं सकते, लेकिन उनके मंत्री भी जनता का दुख बांटने के लिए नहीं पहुंचे। एक भी युवा को आपने बेरोजगारी भत्ता नहीं दिया। बिजली का बिल हॉफ नहीं किया। 2003 में भाजपा के सत्ता में आने के बाद प्रदेश की सड़कें उन्नत हुई थीं, लेकिन अब फिर सड़कों की दुर्दशा हो रही है। प्रदेश में आज भ्रष्टाचार चरम पर है। मुख्यमंत्री कमलनाथ केवल अपनी सरकार बचाने की और अपने मंत्रियों के आर्थिक हितों की चिंता कर रहे हैं। तबादला उद्योग चरम पर है, विकास के काम ठप हैं। पूरे प्रदेश में अराजकता का वातावरण है। यह पहली बार है कि मध्यप्रदेश में ऐसी दुर्दशा दिखाई दे रही है।
विकास किया है, तो डायरेक्ट चुनाव से क्यों डरते हो?
प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस के लोग पत्रकार वार्ता करके कह रहे हैं कि प्रदेश में विकास हुआ है। यदि ऐसा है, तो कांग्रेसियों और कमलनाथ जी को किस बात का डर है? निकाय अध्यक्षों के चुनाव डायरेक्ट कराइए। आप डायरेक्ट चुनाव से बचना चाहते हो, आप गैरदलीय आधार पर चुनाव कराना चाहते हो। मुख्यमंत्री कमलनाथ जानते हैं कि जो भी कांग्रेस का चेहरा बनकर चुनाव में उतरेगा, जनता उसको सबक सिखा देगी। इसीलिए ये चाहते हैं कि मध्यप्रदेश में गैर दलीय आधार पर हो। महापौर और नगरपालिका अध्यक्ष को जनता न चुने, पार्षदों के द्वारा चुनाव हो ताकि एक बार फिर यह लोग खरीदफरोख्त करके अपने लोगों को नगरनिकायों में बिठा सकें। उन्होंने कहा कि हम कांग्रेस को चुनौती देते हैं कि आप में हिम्मत है तो डायरेक्ट चुनाव कराइए, दलीय आधार पर चुनाव कराइए।
प्रदेश में नहीं, मंत्रियों-विधायकों के हाथों में आया निवेश
श्री सिंह ने कहा कि प्रदेश की जनता आज त्राहि-त्राहि कर रही है। कमलनाथ सरकार के कार्यकाल में प्रदेश की स्थिति अंधेरनगरी चैपट राजा जैसी हो गई है। मध्यप्रदेश में पिछले 9 महीनों में अगर निवेश कहीं आया है, तो कांग्रेस के विधायकों और मंत्रियों के हाथों में आया है। जनता के हाथ में तो कुछ नहीं आया है। इस सरकार ने जनहित की सारी योजनाएं बंद कर दीं। कन्यादान योजना के लिए 51 हजार रुपए देने की बात कही थी, लेकिन 51 रुपए भी नहीं मिले हैं। मुख्यमंत्री उपचार योजना बंद है, जिससे गरीब लोग बिना इलाज के मरने को तैयार हैं। प्रदेश की सरकार उनको कोई सुविधा नहीं दे रही है। बच्चों को मिलने वाले अनुदान बंद कर दिए। होस्टल सुविधा बंद कर दी। केंद्र सरकार की योजनाओं में प्रदेश सरकार को अंशदान मिलाना पड़ता है, लेकिन यह नहीं मिलाना चाहते। इसके चलते प्रदेश के लोगों को केंद्र की योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है। आप गरीब के साथ कब तक राजनीति करोगे। केंद्र सरकार उसके लिए पैसा दे रही है तो उसका लाभ मिलने दीजिए। जनता के साथ अन्याय बंद कीजिए। भाजपा सरकार द्वारा शुरू की गई जनहित की योजनाओं को चालू कीजिए और जो वादे किए थे उन्हें पूरा कीजिए। झूठ का जंजाल बुन रही कांग्रेस
श्री सिंह ने कहा कि झाबुआ उपचुनाव के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ सारी तैयारी कर रहे हैं, लेकिन सारे प्रदेश की जनता के हितों को दांव पर लगा रहे हैं? झाबुआ की जनता दुखी और परेशान है। कांग्रेस वहां जाकर झूठ का जंजाल बुनने की कोशिश कर रही है, लेकिन जनता इनको सफल नहीं होने देगी। जनता बोल रही है कि कमलनाथ जी के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार बनवाकर बहुत बड़ी गलती हो गई। इसीलिए जनता दुखी है। उन्होंने कहा कि जनता इस सरकार से बहुत जल्दी छुटकारा चाहती है। मुख्यमंत्री कमलनाथ भी इस सच्चाई को जानते हैं।

जेटली जी महान नेता थे : शिवराज सिंह
24 August 2019
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री षिवराजसिंह चौहान ने वरिष्ठ नेता श्री अरुण जेटली जी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि जेटली जी एक महान नेता थे। वे जीवन के आखिरी समय तक सक्रिय रहे। 2003 में प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही। श्री चौहान ने कहा कि मैंने अपना बड़ा भाई खो दिया है। मैं उनके निधन से स्तब्ध हूं। श्री जेटली जी ने अपना जीवन भारत माता के चरणों में समर्पित कर दिया था। ऐसा कोई विषय नहीं था जिस पर वो बोल नहीं सकते थे। अपने अंतिम समय तक वो ब्लॉग लिखते रहे।
जेटली जी से जुडे संस्मरण याद करते हुए श्री चौहान ने कहा कि मैं जब कक्षा 11वीं में था, तबसे मेरे उनसे संबंध थे। मध्यप्रदेश में 2003 में कांग्रेस सरकार की नाकामी उजागर करना उनकी प्रतिभा की वजह से ही संभव हो पाया। एक नही अनेको स्मृतियां उनसे जुड़ी हुई हैं। उनका जाना केवल भाजपा का नही बल्कि देश दुनिया की बड़ी क्षति है। श्री अरुण जेटली जैसी प्रतिभा दुनिया में कभी कभी आती हैं। खाली समय मे हास परिहास अपनी बातों से सबको बांधे रखते थे, कैंसर जैसी बीमारी भी कभी उन पर हावी नही हो पाई। उन्होंने जीवन पर्यंत नैतिकता की राजनीति की। अपनी साफगोई के लिए वे हमेशा पहचाने जाते थे। श्री चौहान ने कहा कि परमपिता परमेश्वर जेटली जी की आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दे।
पार्टी ने एक विद्वान सहयोगी, देश ने एक ईमानदार राजनेता खो दिया : राकेश सिंह
प्रदेश अध्यक्ष ने दी पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व. अरुण जेटली को भावपूर्ण श्रद्धांजलि

जेटली जी का इस तरह जाना भारतीय जनता पार्टी के लिए अपूरणीय क्षति है, जिनकी विद्वता ने कई अवसरों पर पार्टी को राह दिखाई है। यह देश के लिए भी बड़ा नुकसान, जिसने एक ईमानदार और मूल्य आधारित राजनीति करने वाला राजनेता खो दिया है। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह ने पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री अरुण जेटली के निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कही।
श्री राकेश सिंह ने कहा कि स्व. जेटली एक तरफ जहां संसदीय प्रक्रियाओं और उनकी बारीकियों के जानकार थे, वहीं, वे एक विश्वस्तरीय कानूनविद् भी थे। वे चाहे विपक्ष में रहे हों, या सत्ता में अनुभव, ज्ञान और तर्कों पर आधारित उनके वक्तव्य उनकी अद्वितीय विशेषता थे। उनका दायरा सिर्फ कानून और आर्थिक मामलों तक सीमित नहीं था, बल्कि वे हर विषय पर ऐसे अधिकार और दक्षता के साथ अपनी बात रखते थे कि विरोधी नेता भी चुप हो जाते थे। श्री सिंह ने कहा कि बात चाहे संसद के अंदर की हो, या बाहर की जेटली जी इतनी स्पष्टता के साथ पार्टी का पक्ष देश और दुनिया के सामने रखते थे कि उनके बयान के बाद कोई सवाल नहीं बचता था। श्री सिंह ने कहा कि जेटली जी के व्यक्तित्व में कुशल योजनाकार, दक्ष प्रशासक, सुयोग्य रणनीतिकार और आदर्श प्रवक्ता की विशेषताएं समाहित थीं। विभिन्न विषयों या समस्याओं के संबंध में उनकी स्पष्ट और सुलझी हुई राय पार्टी को ऊर्जा और दिशा प्रदान करती थी।
अपने काम से हमेशा याद रखे जाएंगे जेटली जी
श्री राकेश सिंह ने कहा कि जेटली जी भले ही हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनके किए हुए काम हर पार्टी कार्यकर्ताओं को और हर भारतवासी को उनकी उपस्थिति का अहसास कराते रहेंगे। श्री सिंह ने कहा कि श्री जेटली के वित्तमंत्री रहते हुए ही प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कालेधन और आतंकवाद की कमर तोड़ने के लिए नोटबंदी का फैसला किया था। सरकार के इस निर्णय को जितनी कुशलता के साथ लागू किया गया, वह जेटली जी की प्रबंधन क्षमता का उदाहरण है। उन्होंने कहा कि जेटली जी के वित्तमंत्री पद पर रहते हुए ही मोदी जी के नेतृत्व में भारत दुनिया की 11 वीं अर्थव्यवस्था से छठी अर्थव्यवस्था वाला देश बना। यह सिर्फ देश ही नहीं, बल्कि सारी दुनिया के लिए एक महत्वपूर्ण बदलाव था। एक देश, एक कर की सरकार की नीति के चलते पूरे देश में जीएसटी की व्यवस्था लागू की गई। लेकिन इसे लागू करने के लिए विभिन्न दलों में समन्वय बनाने, सभी राज्यों को इसके लिए तैयार करने, टैक्स स्लैब बनाने से लेकर उसे लागू करने और जनता की आकांक्षाओं तथा समस्याओं के अनुरूप कर ढांचे में सुधार के काम जेटली जी ने जिस संवदेनशीलता और जिम्मेदारी के साथ किए थे, उसके लिए वे हमेशा याद किए जाएंगे। श्री राकेश सिंह ने स्व. जेटली जी की आत्मा को श्रीचरणों में स्थान देने और उनके परिजनों को दुख की इस घड़ी में धैर्य प्रदान करने की प्रार्थना परमपिता परमेश्वर से की है।
भाजपा नेताओं ने दी स्व. जेटली जी को श्रद्धांजलि
प्रदेश भाजपा के नेताओं ने पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री अरुण जेटली के निधन पर दुख जताया है। पार्टी के नेताओं ने श्री जेटली जी के निधन को बड़ी क्षति बताते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है। पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री अरुण जेटली का शनिवार को राजधानी दिल्ली स्थित एम्स में निधन हो गया। उनके निधन पर प्रदेश भाजपा के नेताओं ने उन्हें याद करते हुए श्रद्धासुमन अर्पित किए हैं। केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्रसिंह तोमर ने कहा कि श्री अरूण जेटली जी देश के राजनीतिक परिदृश्य पर एक महत्वपूर्ण नक्षत्र थे। उन्होंने कार्यकर्ता और नेता के रूप में अपने दायित्वों का निर्वहन किया। आज दुर्भाग्य से वे हम सबके मध्य नहीं हैं, उनके निधन से सार्वजनिक जीवन में जो रिक्तता आई है, उसकी भरपाई संभव नहीं है।
केन्द्रीय मंत्री श्री थावरचंद गहलोत ने कहा कि आदरणीय श्री अरुण जेटलीजी के निधन की हृदय विदारक खबर से अत्यंत दुःखी और स्तब्ध हूं। भाजपा परिवार के अहम सदस्य के रूप में उनका मार्गदर्शन और साथ वर्षों तक रहा। उनका निधन भारतीय राजनीति में और मेरी व्यक्तिगत क्षति हैं। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें।
राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री प्रभात झा ने स्व. जेटली को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि श्री अरुण जेटली जी के असामयिक निधन से स्तब्ध हूं। इससे दुःखद खबर हो नहीं सकती। उनका जाना, भारतीय समाज, राष्ट्र की बहुत बड़ी क्षति है। मेरी व्यक्तिगत क्षति है। राजनीति, विशेषकर संसदीय राजनीति में मैंने उनसे बहुत कुछ सीखा। भगवान् से प्रार्थना है कि स्वर्गीय अरुण जेटली जी की आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान दें। साथ ही उनके परिवार को इस दुःख को सहन करने की शक्ति दें।
राष्ट्रीय महासचिव श्री कैलाश विजयवर्गीय ने उनके निधन को दुखद बताते हुए कहा कि सहज विश्वास नहीं हो रहा कि श्री अरुण जेटली जी अब हमारे बीच नहीं रहे। कानून और वित्तीय मामलों में उनका अध्ययन काफी गहरा था। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दे और परिवार को ये अपार दुःख सहने की शक्ति प्रदान करे।
केंद्रीय मंत्री श्री प्रह्लाद पटेल ने कहा कि आदरणीय जेटली जी के निधन का दुखद समाचार दुखी कर गया। कुछ नेताओं के रिक्त स्थान कभी नहीं भरे जाते। उनका जाना देश और दल के लिए बड़ी क्षति है। महत्वपूर्ण विकास यात्रा के बीच इस व्यक्तित्व का असमय जाना बड़ी क्षति है।
पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती ने कहा कि अरुण जेटली जी का निधन मेरी निजी क्षति है, क्योंकि मेरे बड़े भाई अब मुझे छोड़कर चले गए। मैं इस गहरे दुख की घड़ी में उनके परिवार के साथ हूं। नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि श्री जेटली जी के निधन से देश ने एक विजनरी नेता खो दिया है। श्री भार्गव ने कहा कि श्री जेटली जी का मध्यप्रदेश से जुड़ाव रहा। उनकी कुशल रणनीति में 2003 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने जीत दर्ज की। 66 वर्ष की आयु में उनका असमय चले जाना ना सिर्फ उनके परिजनों के लिए बल्कि भारतीय जनता पार्टी परिवार के लिए भी एक वज्रपात है।
श्री अरूण जेटली का निधन पार्टी के लिए अपूर्णीय क्षति
भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री कैलाश जोशी, वरिष्ठ नेता श्री कैलाश नारायण सारंग, पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, सांसद एवं प्रदेश संगठन प्रभारी डॉ. विनय सहस्रबुद्धे, पूर्व मुख्यमंत्री एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री शिवराजसिंह चौहान, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व सांसद श्री प्रभात झा, केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्रसिंह तोमर, श्री थावरचन्द्र गेहलोत, श्री प्रहलाद पटेल, श्री फग्गनसिंह कुलस्ते, वरिष्ठ नेत्री सुश्री उमा भारती, पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव श्री कैलाश विजयवर्गीय, पार्टी की राष्ट्रीय सचिव व सासंद श्रीमती ज्योति धु्रर्वे, वरिष्ठ नेता श्री विक्रम वर्मा, सासंद डॉ. सत्यनारायण जटिया, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह एवं नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री अरूण जेटली के निधन पर शोक व्यक्त किया है और शोक संतप्त परिवार के प्रति गहन संवेदना व्यक्त की है। प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह शनिवार को जेटली जी के निधन का समाचार मिलते ही दिल्ली रवाना हुए।
पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अरविन्द सिंह भदौरिया, श्री विनोद गोटिया, श्रीमति रंजना बघेल, सुश्री उषा ठाकुर, श्री रामलाल रौतेल, श्री प्रदीप लारिया, श्री सुदर्शन गुप्ता, श्री रामेश्वर शर्मा, श्री विजेश लुणावत, श्री जीतू जिराती, प्रदेश महामंत्री श्री अजयप्रताप सिंह, श्री बंशीलाल गुर्जर, श्री मनोहर उंटवाल, श्री विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश मंत्री श्रीमति संपतियां उइके, श्री बृजेन्द्रप्रताप सिंह, श्रीमति कृष्णा गौर, श्री कन्हईराम रघुवंशी, श्री बुद्धसेन पटेल, श्री सरतेन्दु तिवारी, श्री रघुनाथ भाटी, श्री पंकज जोशी, सुश्री कविता पाटीदार, प्रदेश कोषाध्यक्ष श्री हेमंत खण्डेलवाल, प्रदेश कार्यालय मंत्री श्री सत्येन्द्र भूषण सिंह, श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, भोपाल संभाग के संभागीय संगठन मंत्री श्री आशुतोष तिवारी, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेन्द्र पाराशर, प्रदेश सह मीडिया प्रभारी श्री संजय गोविन्द खोचे, श्री उदय अग्रवाल एवं श्री सर्वेश तिवारी, प्रदेश मुख्य प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय, प्रदेश प्रवक्ता श्री आलोक संजर, प्रो. चिंतामणि मालवीय, श्री रजनीश अग्रवाल, श्री नागरसिंह चौहान, सुश्री राजो मालवीय, श्री हिदायतुल्लाह शेख, श्री राहुल कोठारी, श्री उमेश शर्मा, श्री राजपाल सिंह सिसोदिया ने श्री अरूण जेटली के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

चिट्ठी लिखने से कुछ नहीं होगा, किसानों का कर्ज माफ करे सरकार : शिवराज सिंह
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा-सरकार ने प्रदेश के किसानों को बर्बादी के कगार पर पहुंचाया

23 August 2019
भोपाल। आज का अखबार पढ़कर हैरान हूं, जिसमें मुख्यमंत्री जी की किसानों के नाम पर चिट्ठी छपी है। मुख्यमंत्री जी किसानों को चिट्ठी नहीं चाहिए, किसानों को कर्ज माफी चाहिए। कब से किसान इंतजार कर रहा है। पता नहीं चिट्ठी में क्या-क्या लिख रहे हैं कि एक या अधिक बैंकों का कर्जा है तो उनकी जांच की जाएगी। मैं कहता हूं चिट्ठी लिखने से कुछ नहीं होगा। सीधे-सीधे किसानों का कर्जा माफ करो, तभी किसान संतुष्ट होगा। यह बात पूर्व मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष श्री शिवराजसिंह चौहान ने शुक्रवार को मीडिया से चर्चा करते हुए कही।
किसानों को क्यों धोखा दिया?
श्री चौहान ने कहा कि विधानसभा चुनाव के समय किसने कहा था 10 दिन के अंदर सारा कर्जामाफ कर दिया जायेगा? किसने कहा था अगर ऐसा नहीं हुआ, तो 11 वें दिन मुख्यमंत्री बदल दूंगा। मैं मुख्यमंत्री कमलनाथ, राहुल गांधी, सोनिया गांधी से पूछना चाहता हूं कि प्रदेश के किसानों को क्यों धोखा दिया ? अब कांग्रेस की सरकार बने 8 महीने हो गए, अब तक तो 27 मुख्यमंत्री बदल जाना चाहिए थे। न मुख्यमंत्री बदले, न कर्जमाफी का पता है और न राहुल गांधी का। अब किसके पास जाकर कहें। कमलनाथ जी आपने कहा था कि किसानों का दो लाख तक का कर्जा माफ हो जायेगा। अब कह रहे हैं कि एक या अधिक बैंकों का कर्जा है तो उनकी जांच की जाएगी। हरे, पीले, लाल, गुलाबी फार्म भरवाए जा रहे हैं। आपने वचन पत्र में तो यह नहीं कहा था।
कांग्रेस ने प्रदेश की खेती तबाह कर दी
श्री चौहान ने कहा कि कांग्रेस ने मध्यप्रदेश की खेती तबाह कर दी। प्रदेश में 41 प्रतिशत किसान क्रेडिट घट गई है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने पहले चेताया था कि किसान कर्ज माफी के जंजाल में फंस जाएगा। आखिर वही हुआ, जिसका कर्जा माफ नहीं हुआ वह डिफाल्टर हो गया। ऐसे किसानों को अब बैंक से कर्जा भी नहीं मिलेगा। कांग्रेस की सरकार किसानों को धोखा दे रही है, ठग रहे हो। यह नाटक ज्यादा दिन नहीं चलेगा। ना मध्यप्रदेश का किसान इसे सहन करेगा और ना ही भारतीय जनता पार्टी सहन करेगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार सोयाबीन पर 500 रू. क्विंटल खा गई। मक्के का 500 रूपए खा गयी। धान का बोनस नहीं दिया। गेहूं 2100 रुपए क्विंटल खरीदना था, लेकिन 160 रुपए भी नहीं दे रहे हैं। कई किसान चने और धान के पेमेंट के लिए तरस रहे हैं। किसान तबाही और बर्बादी के कगार पर खड़ा है। कई किसानों ने शिकायत की कि सरकार ने ओले-पाले का मुआवजा नहीं दिया। सरकार ने अगर किसानों को मुआवजा नहीं दिया, तो किसानों की लड़ाई सड़कों पर लड़ी जाएगी।

स्व.ठाकरे जी की जयंती पर प्रदेश भर में हुए आयोजन
प्रदेश कार्यालय में हुआ सुंदरकांड पाठ

23 August 2019
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के पितृपुरूष स्व. कुशाभाऊ ठाकरे जी की जयंती पर शुक्रवार को प्रदेश भर में कार्यकर्ताओं ने उनका पुण्य स्मरण किया। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश कार्यालय में सुंदरकांड पाठ में पूर्व मुख्यमंत्री, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व सदस्यता अभियान के राष्ट्रीय प्रभारी श्री शिवराजसिंह चौहान, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व सांसद श्री प्रभात झा सहित पार्टी पदाधिकारी एवं कार्यकताओं ने भाग लिया।
इस अवसर पर प्रदेश कार्यालय मंत्री श्री सत्येन्द्र भूषण सिंह, श्री राजेन्द्र सिह राजपूत, प्रदेश प्रवक्ता श्री आलोक संजर, सांसद श्री कैलाश सोनी पूर्व मंत्री श्री लालसिंह आर्य, श्री विश्वास सारंग, जिला अध्यक्ष श्री विकास विरानी, श्री सुरज कैरो, श्री रमेश शर्मा गुट्टू भैया, श्री शांतिलाल लोढ़ा, श्री शैलेन्द्र शर्मा, श्री भगवानदास सवनानी, श्रीमती सीमा सिंह,, श्री राघवेन्द्र गौतम, श्री गीत धीर, श्री हीरेन्द्र बहादुर सिंह, श्री पुष्पेन्द्र जैन, श्री एस.एस. गिल, श्री सुमित ओरछा, श्री अशोक सैनी, श्री राम बंसल, श्री भगवत रघुवंशी, श्री बाबूलाल यादव, श्री उमाकांत दीक्षित, श्रीमती भावना सिंह, श्रीमती सुषमा बवीसा, श्रीमती ममता यादव, श्रीमती निशा सक्सेना, श्री विनय द्विवेदी, श्री शिवलाल मकोरिया, श्री लिलेन्द्र मारण, श्री अशोक चौहान, श्री रामप्रकाश बंशकार, श्री राजकुमार विश्वकर्मा, श्री उमेश तिवारी, श्री मोहित चौरसिया सहित पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।
भदभदा विश्राम घाट पर स्व. ठाकरे जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण
पार्टी के पितृपुरूष स्व. कुशाभाऊ ठाकरे जी की जयंती पर भदभदा विश्राम घाट स्थित श्री ठाकरे जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर पूर्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, जिला अध्यक्ष श्री विकास विरानी सहित कार्यकर्ताओं ने सामाजिक जीवन में उनके बताएं मार्ग पर चलकर राष्ट्रसेवा का संकल्प लिया।
इस अवसर पर श्री रामदयाल प्रजापति, श्री राकेश जैन, श्री लिलेन्द्र मारण, श्री राकेश तोमर, श्री राकेश सरवैया, श्रीमती मंजू सराठे सहित जिला पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।

पूर्व मुख्यमंत्री श्री बाबूलाल गौर पंचतत्व में विलीन प्रधानमंत्री, राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं केन्द्रीय मंत्रियों ने किया शोक व्यक्त
21 August 2019
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री श्री बाबूलाल गौर जी का बुधवार को निधन हो गया। उनके निधन का समाचार सुनते ही भोपाल से दिल्ली तक शोक की लहर दौड़ गयी। श्री बाबूलाल गौर जी की पार्थिव देह बुधवार को दोपहर पार्टी के प्रदेश कार्यालय पं. दीनदयाल उपाध्याय परिसर में कार्यकर्ताओं और आम नागरिकों के दर्शनार्थ रखी गयी। पार्टी पदाधिकारी, कार्यकर्ताओं एवं विभिन्न समाज व धर्म गुरूओं ने श्री गौरजी को श्रद्धासुमन अर्पित किए और उनके परिजनों को ढांढस बंधाया। तत्पश्चात् उनकी अंतिम यात्रा सुभाष नगर विश्राम घाट पहुंची जहां उनका राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।
श्री गौर के निधन पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं गृह मंत्री श्री अमित शाह, रक्षामंत्री श्री राजनाथ सिंह, राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष श्री जेपी नड्डा सहित पार्टी के केन्द्रीय नेता एवं विभिन्न राजनैतिक दलों के प्रमुख नेताओं ने शोक संवेदनाएं व्यक्त की।
सुभाष नगर विश्राम घाट पर प्रदेश के राज्यपाल श्री लालजी टंडन, केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्रसिंह तोमर, श्री थावरचन्द गेहलोत, श्री नित्यानंद राय, पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह, वरिष्ठ नेता एवं पूर्व राज्यपाल प्रो. कप्तानसिंह सोलंकी, पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं सांसद श्री प्रभात झा, पूर्व राष्ट्रीय संगठन महामंत्री श्री संजय जोशी, नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव, पूर्व मंत्री श्री नरोत्तम मिश्रा, श्री रामपाल सिंह, श्री उमाशंकर गुप्ता, श्री कमल पटेल, समाजवादी नेता श्री रघु ठाकुर, प्रदेश सरकार की ओर से मंत्री श्री पीसी शर्मा, श्री अजय सिंह सहित भाजपा, कांग्रेस सहित अन्य दलों के वरिष्ठ नेताओं ने विश्रामघाट पहुंचकर श्रद्धासुमन अर्पित किए।
निवास पर पहुंचकर किए श्रद्धासुमन अर्पित
श्री बाबूलाल गौर के दुखद निधन का समाचार सुनते ही उनके निवास पर कार्यकर्ता और समर्थकों का तांता लग गया। मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री शिवराजसिंह चौहान, श्री प्रभात झा, प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह, नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव, पूर्व राज्यपाल प्रो. कप्तानसिंह सोलंकी, प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अरविंद सिंह भदौरिया, श्री विनोद गोटिया, श्री रामेश्वर शर्मा, श्री विजेश लूणावत, प्रदेश महामंत्री श्री विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश सरकार के मंत्री श्री आरिफ अकील, श्री गोविन्द सिंह, श्री पीसी शर्मा, श्री जयवर्द्धन सिंह, श्री सुखदेव पांसे, महापौर श्री आलोक शर्मा, जिलाध्यक्ष श्री विकास विरानी, कांग्रेस नेत्री श्रीमती शोभा ओझा, श्री जेपी धनोपिया सहित भाजपा के वरिष्ठ नेताओं, विभिन्न समाज के प्रमुखों ने गौर जी के निवास पहुंचकर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए।
बाबूलाल जी जिंदादिल और कर्त्तव्यों के प्रति समर्पित थे : डॉ. सहस्त्रबुद्धे
पार्टी के प्रदेश प्रभारी एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे ने कहा कि श्री बाबूलाल गौर जी ने अपने काम के दम पर न सिर्फ प्रदेश बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाई। वे जिंदादिल इंसान थे और कर्त्तव्यों के प्रति हमेशा समर्पित थे। श्रेष्ठ नेता और कर्मठ कार्यकर्ता के रूप में उनकी अलग पहचान थी। वे एक संगठक के तौर पर जितने अच्छे नेता थे, उतने ही कुशल प्रशासक के रूप में उन्होंने मुख्यमंत्री और सरकार के विभिन्न दायित्वों पर रहकर काम किया। भोपाल का सुंदर स्वरूप आज हमारे सामने है तब उसमें सबसे बड़ा योगदान बाबूलाल जी गौर का रहा है। उन्होंने कहा कि गौर साहब अपने आचरण में विचारों के प्रति दृढ़ रहते थे। उनका निधन न सिर्फ भारतीय जनता पार्टी बल्कि मध्यप्रदेश की राजनीति के लिए एक बड़ी क्षति है, जिसकी भरपाई असंभव है।
युगों, युगों तक हमारे दिलों में जिंदा रहेंगे गौर जी : शिवराजसिंह चौहान
पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने शोक सभा में कहा कि आदरणीय बाबूलाल गौर को सत्य के लिए लड़ने वाले सिपाही और मज़दूरों, गरीबों व कमज़ोर वर्ग के हितों के रक्षक के रूप में सदैव याद किया जायेगा। गोवा मुक्ति आंदोलन से लेकर आपातकाल तक में पुलिस की लाठियों का निडरता से सामना करने वाले नायक युगों युगों तक हमारे दिलों में जिंदा रहेंगे। आदरणीय गौर जी अपने परिश्रम के बल पर शून्य से शिखर पर पहुँचे। उन्होंने गौर जी से जुड़े उनके संस्मरण सुनाते हुए कहा कि 1974 में जब वे चुनाव में खड़े हुए, तब मैंने उनके लिए काम किया, एक तरह से तभी मेरे राजनीतिक जीवन की शुरुआत हुई। आपातकाल के समय उनका सानिध्य मिला, जेल के माहौल को मज़ाकिया अंदाज़ में हल्का करने की वे कोशिश करते। किसी विधानसभा क्षेत्र का विकास करना सीखना हो तो बाबूलाल गौर जी से सीखें। गोविंदपुरा क्षेत्र से उन्होंने चुनाव जीतना प्रारंभ किया तो पीछे मुड़कर नहीं देखा, एक ही क्षेत्र से इतने बार जीतकर उन्होंने एक रिकॉर्ड बनाया। यह जनता की सेवा और जनता के प्रति उनके समर्पण से ही संभव हो सका।
उन्होंने कहा कि ऐसे जनसेवक और संघर्ष के पर्याय रहे आदरणीय बाबूलाल गौर जी के चरणों में मैं अश्रुपूरित श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ। मध्यप्रदेश भाजपा के आधार स्तंभ, पूर्व मुख्यमंत्री, हमारे मार्गदर्शक व जन-जन के नेता श्री बाबूलाल गौर के निधन से दुःखी हूँ। ईश्वर से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें व परिजनों को इस गहन दुःख को सहने की क्षमता प्रदान करें।
मध्यप्रदेश के विकास की आधारशिला थे बाबूलाल जी : राकेश सिंह
प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह ने कहा कि आदरणीय बाबूलाल गौर जी के निधन से न सिर्फ भारतीय जनता पार्टी अपितु मध्यप्रदेश की राजनीति में एक युग की समाप्ति हुई है। उन्होंने जिजीविषा के साथ प्रदेश में हजारों कार्यकर्ताओं का निर्माण किया। वे सभी के दुख और सुख में सहभागी बनते थे। आज अगर मध्यप्रदेश को हम विकसित रूप में देखते है तो इसकी आधारशिला आदरणीय बाबूलाल गौर जी ने रखी। भोपाल के विकास में उनका योगदान अविस्मरणीय है। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि गौर साहब ने सार्वजनिक एवं राजनैतिक जीवन में अपने काम के जरिए नए आयाम स्थापित किए है। उन्होंने जो काम किए है वह श्रेष्ठ कार्यकर्ताओं के लिए प्रेरणा पुंज है। मुझ जैसे हजारों कार्यकर्ता इनके दिखाए मार्ग पर चलेंगे। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के लाखों लाख कार्यकर्ताओं की ओर से आदरणीय बाबूलाल जी को प्रणाम करता हूं और ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि श्रीचरणों में उनको स्थान दे।
सर्वव्यापी, सर्वस्पर्शी थे गौर साहब : गेहलोत
केन्द्रीय मंत्री श्री थावरचन्द गेहलोत ने श्री बाबूलाल गौर का पुण्य स्मरण करते हुए कहा कि 1974 के उपचुनाव से मैं उनके संपर्क में आया। तब से आज तक उनसे जीवंत संपर्क रहा। वे सरल और सहज नेता थे। वे सर्वव्यापी और सर्वस्पर्शी थे। यही उनकी दिनचर्या थी। वे बेहिचक कार्यकर्ताओं के बीच पहुंचकर उनसे सीधा संवाद स्थापित करते थे। उनका निधन भारतीय जनता पार्टी के लिए एक बड़ी क्षति है। श्री गौर साहब दलगत राजनीति से उपर उठकर काम करते थे और यही उनकी खासियत थी।
प्रेरणादायी नेता रहे बाबूलाल जी गौर : तोमर
प्रधानमंत्री एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष के प्रतिनिधि के तौर पर केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्रसिंह तोमर ने श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा कि गौर साहब से एक कार्यकर्ता के नाते मेरा संपर्क रहा। वे एक सक्षम और प्रेरणादायी नेता रहे। उनसे हमेशा नित नया काम करने की मुझे प्रेरणा मिलती थी। संगठन के दायित्वों के साथ उन्होंने प्रशासनिक पदों पर रहकर सफलतम काम किया। मध्यप्रदेश के विकास में उनका योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता। श्री तोमर ने कहा कि उनके साथ मुझे काम करने का सौभाग्य मिला। उनसे सीखने का अवसर मिलता था। उनके निधन से सार्वजनिक जीवन में जो रिक्तता आयी है उसकी भरपाई असंभव है। श्री नरेन्द्रसिंह तोमर ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी एवं पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की ओर से दिवंगत आत्मा के प्रति श्रद्धासुमन अर्पित कर गौर परिवार पर हुए वज्रपात को सहन करने की प्रभु से कामना की।
कार्यकर्ताओं के लिए प्रेरणा है गौर जीः नित्यानंद राय
केन्द्रीय मंत्री श्री नित्यानंद राय ने श्री बाबूलाल गौर का स्मरण करते हुए कहा कि सादा जीवन, उच्च विचार इस बात को आदरणीय बाबूलाल गौर जीते थे। उनका जीवन कार्यकर्ताओं के लिए प्रेरणास्पद रहा। मध्यप्रदेश के विकास को लेकर वे हमेशा प्रयासरत रहते थे। मुख्यमंत्री रहते हुए उन्होंने मध्यप्रदेश में विकास का कीर्तिमान स्थापित किया। उन्होंने कहा कि गौर साहब कुशल शासक के साथ श्रेष्ठ संगठक भी थे और इसलिए वे कार्यकर्ताओं के स्नेह पात्र रहे।
गौर जी दलगत राजनीति से उपर उठकर काम करते थे : रघु ठाकुर
वरिष्ठ समाजवादी नेता श्री रघु ठाकुर ने श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए श्री बाबूलाल गौर के साथ जुड़े उनके संस्मरण सांझा किए। उन्होंने कहा कि आपातकाल के समय हम जेल में साथ रहे वे धुन के पक्के नेता थे, जो ठान लेते थे उसे करके रहते थे। विकास को लेकर उनकी सोच व्यापक थी। वे दलगत राजनीति से उपर उठकर विकास को तरजीह देते थे और यही कारण है कि मध्यप्रदेश और खासकर भोपाल का जो विकास हुआ है उसमें विशेष योगदान है।
लोकप्रिय नेता थे बाबूलाल जी गौर : पीसी शर्मा
प्रदेश सरकार के मंत्री श्री पीसी शर्मा ने सरकार की ओर से श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा कि आदरणीय गौर साहब राजनीति से परे हटकर काम करते थे। उन्होंने भोपाल के विकास को लेकर कभी भी दलगत राजनीति से प्रेरित होकर काम नहीं किया। वे लोकप्रिय नेता थे, उनका निधन मध्यप्रदेश की राजनीति के लिए एक क्षति है। उन्होंने कहा कि भोपाल के विकास को लेकर सभी को साथ लेकर चलते थे। कभी भी उन्होंने भेदभावपूर्ण राजनीति नहीं की।
कार्यालय में अंतिम दर्शन के लिए कार्यकर्ताओं का लगा तांता
श्री बाबूलाल गौर पार्थिव शरीर को भाजपा प्रदेश कार्यालय, पं. दीनदयाल परिसर में कार्यकर्ता के अंतिम दर्शनार्थ रखा गया था। प्रदेश भर से भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता, जनप्रतिनिधिगण एवं समर्थकों ने पहुंचकर उनके पार्थिव को श्रद्धासुमन अर्पित किए। कार्यकर्ताओं ने बाबूलाल गौर अमर रहे के उदघोष करते हुए जनप्रिय नेता को अंतिम विदाई दी। श्री तपन भौमिक, श्रीमती सुधा मलैया, पूर्व मंत्री श्री गौरीशंकर शेजवार, श्री लक्ष्मीकांत शर्मा, श्री सुरेन्द्र पटवा, श्री विश्वास सारंग, प्रदेश मंत्री श्री पंकज जोशी, सांसद सुश्री प्रज्ञा सिंह ठाकुर, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेंद्र पाराशर, प्रदेश सह मीडिया प्रभारी श्री संजय गोविंद खोचे, प्रदेश कार्यालय मंत्री श्री सत्येन्द्र भूषण सिंह, श्री राजेन्द्रसिंह राजपूत, मुख्य प्रदेश प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय, प्रवक्ता श्री आलोक संजर, सुश्री राजो मालवीय, श्री राहुल कोठारी, श्री रजनीश अग्रवाल, श्री सुरजीत सिंह चौहान, श्री भागीरथ प्रसाद, श्री अशोक सैनी, श्री रमेश शर्मा गुट्टू भैया, श्रीमती ऊषा चतुर्वेदी, श्री मोहन शर्मा, श्री हिरेन्द्र बहादुर सिंह, श्री मनीष सक्सेना, श्री महेश शर्मा, श्री राकेश शर्मा, श्री दुर्गेश केसवानी, श्री अनिल सप्रे सहित धर्म गुरूओं, प्रदेश भर के विभिन्न जिलों से आए जनप्रतिनिधिगण एवं पार्टी पदाधिकारी, कार्यकताओं ने श्रद्धासुमन अर्पित किए।

स्व. सुधाकर भगत का अंतिम संस्कार
20 August 2019
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत के पिताजी स्व. सुधाकर भगत का मंगलवार को सुबह 10 बजे इंदौर के रामबाग मुक्तिधाम पर अंतिम संस्कार किया गया। 81 वर्षीय स्व. सुधाकर भगत जी का सोमवार को निधन हो गया था। वे कुछ समय से अस्वस्थ थे। उनकी अंतिम यात्रा मंगलवार को सुबह 9.30 बजे 18-नुपुर श्री रेसीडेंसी, गणेश धाम कालोनी, ब्रजेश्वरी मेन, बंगाली चौराहे के पास से निकलकर रामबाग मुक्तिधाम पहुची, जहॉं उपस्थित जन समुदाय ने उनके अंतिम दर्शन किए, जिसके पश्चात उनका अंतिम संस्कार किया गया।
अंतिम यात्रा में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के श्री अरुण जैन, श्री कृष्णकुमार अष्ठाना, श्री लक्ष्मणराव नवाथे, पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं सांसद श्री प्रभात झा, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद श्री नंदकुमारसिंह चौहान, वरिष्ठ नेता श्री कृष्णमुरारी मोघे, श्री बाबूसिंह रघुवंशी, पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अरविंद भदौरिया, श्री विजेश लुणावत, श्री रामेश्वर शर्मा, श्री सुदर्शन गुप्ता, श्री जीतू जिराती, प्रदेश महामंत्री श्री मनोहर ऊंटवाल, प्रदेश मंत्री श्रीमती कविता पाटीदार, पूर्व मंत्री श्री नरोत्तम मिश्रा, श्री विजय शाह, श्री विश्वास सारंग, श्री दीपक जोशी, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेंद्र पाराशर, सह मीडिया प्रभारी श्री सर्वेश तिवारी, प्रदेश प्रवक्ता श्री आलोक संजर, श्री रजनीश अग्रवाल, श्री राहुल कोठारी, श्री उमेश शर्मा, श्री राजपाल सिंह सिसौदिया, देवास सांसद श्री महेंद्रसिंह सोलंकी, श्री तपन भौमिक, श्री जयपालसिंह चावड़ा, सांसद श्री शंकर लालवानी, भोपाल महापौर श्री आलोक शर्मा, विधायक श्री कमल पटेल, श्री रमेश मेंदोला, श्री महेंद्र हार्डिया, श्री ओमप्रकाश सकलेचा, श्री सूरज कैरो, श्री जसवंतसिंह हाड़ा, श्री मनोज पटेल, श्री राजेश सोनकर, श्रीमती मधु वर्मा, श्री गोविन्द मालू, श्री राजकुमार मेव, श्री अजयसिंह नरूका, संभागीय मीडिया प्रभारी श्री सचिन सक्सेना, श्री प्रेमनारायण पटेल, श्री मुकेशसिंह राजावत, श्री गणेश गोयल, श्री घनश्याम शेर, श्री कमल वाघेला, श्री हरिनारायण यादव, श्री प्रताप करोसिया, श्री गोलू शुक्ला, श्री नानूराम कुमावत, श्री जयंत भीसे, श्री जेपी मूलचंदानी, श्री सुमित मिश्रा, श्री सोनू राठौर, श्री गुलाब ठाकुर, श्री प्रदीप नायर, श्री गौरव रणदिवे, श्री एकलव्य गौड़, श्री संदीप दुबे, श्री मुकेश मंगल, श्री कमल वर्मा, श्री विजय मालानी, श्री जवाहर मंगवानी, श्री भगवानसिंह चौहान सहित बड़ी संख्या में समाजसेवी, पार्टी पदाधिकारी, जनप्रतिनिधि एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।

शोक संवेदना व्यक्त
19 August 2019
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह, प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत एवं नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. जगन्नाथ मिश्र के निधन पर शोक व्यक्त किया है और शोक संतप्त परिवार के प्रति गहन संवेदना व्यक्त की है।
पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अरविन्द सिंह भदौरिया, श्री विनोद गोटिया, श्रीमति रंजना बघेल, सुश्री उषा ठाकुर, श्री रामलाल रौतेल, श्री प्रदीप लारिया, श्री सुदर्शन गुप्ता, श्री रामेश्वर शर्मा, श्री विजेश लुणावत, श्री जीतू जिराती, प्रदेश महामंत्री श्री अजयप्रताप सिंह, श्री बंशीलाल गुर्जर, श्री मनोहर उंटवाल, श्री विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश मंत्री श्रीमति संपतियां उइके, श्री बृजेन्द्रप्रताप सिंह, श्रीमति कृष्णा गौर, श्री कन्हईराम रघुवंशी, श्री बुद्धसेन पटेल, श्री सरतेन्दु तिवारी, श्री रघुनाथ भाटी, श्री पंकज जोशी, सुश्री कविता पाटीदार, प्रदेश कोषाध्यक्ष श्री हेमंत खण्डेलवाल, प्रदेश कार्यालय मंत्री श्री सत्येन्द्र भूषण सिंह, श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, भोपाल संभाग के संभागीय संगठन मंत्री श्री आशुतोष तिवारी, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेन्द्र पाराशर, प्रदेश सह मीडिया प्रभारी श्री संजय गोविन्द खोचे, श्री उदय अग्रवाल एवं श्री सर्वेश तिवारी, प्रदेश मुख्य प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय, प्रदेश प्रवक्ता श्री आलोक संजर, प्रो. चिंतामणि मालवीय, श्री रजनीश अग्रवाल, श्री नागरसिंह चौहान, सुश्री राजो मालवीय, श्री हिदायतुल्लाह शेख, श्री राहुल कोठारी, श्री उमेश शर्मा, श्री राजपाल सिंह सिसोदिया ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. जगन्नाथ मिश्र के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

शोक संवेदना व्यक्त
19 August 2019
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह, प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत एवं नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने मशहूर संगीतकार खय्याम के निधन पर शोक व्यक्त किया है और शोक संतप्त परिवार के प्रति गहन संवेदना व्यक्त की है।
पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अरविन्द सिंह भदौरिया, श्री विनोद गोटिया, श्रीमति रंजना बघेल, सुश्री उषा ठाकुर, श्री रामलाल रौतेल, श्री प्रदीप लारिया, श्री सुदर्शन गुप्ता, श्री रामेश्वर शर्मा, श्री विजेश लुणावत, श्री जीतू जिराती, प्रदेश महामंत्री श्री अजयप्रताप सिंह, श्री बंशीलाल गुर्जर, श्री मनोहर उंटवाल, श्री विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश मंत्री श्रीमति संपतियां उइके, श्री बृजेन्द्रप्रताप सिंह, श्रीमति कृष्णा गौर, श्री कन्हईराम रघुवंशी, श्री बुद्धसेन पटेल, श्री सरतेन्दु तिवारी, श्री रघुनाथ भाटी, श्री पंकज जोशी, सुश्री कविता पाटीदार, प्रदेश कोषाध्यक्ष श्री हेमंत खण्डेलवाल, प्रदेश कार्यालय मंत्री श्री सत्येन्द्र भूषण सिंह, श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, भोपाल संभाग के संभागीय संगठन मंत्री श्री आशुतोष तिवारी, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेन्द्र पाराशर, प्रदेश सह मीडिया प्रभारी श्री संजय गोविन्द खोचे, श्री उदय अग्रवाल एवं श्री सर्वेश तिवारी, प्रदेश मुख्य प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय, प्रदेश प्रवक्ता श्री आलोक संजर, प्रो. चिंतामणि मालवीय, श्री रजनीश अग्रवाल, श्री नागरसिंह चौहान, सुश्री राजो मालवीय, श्री हिदायतुल्लाह शेख, श्री राहुल कोठारी, श्री उमेश शर्मा, श्री राजपाल सिंह सिसोदिया ने मशहूर संगीतकार खय्याम के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

मोदीजी देश के लिए वरदान: चौहान
19 August 2019
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी केवल सरकार बनाने के लिए नहीं बल्कि देश बनाने के लिए काम करती है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में नये भारत का निर्माण हो रहा है। प्रधानमंत्री श्री मोदी का यह कथन की विकास केवल सरकार नहीं कर सकती। समाज को भी आगे आना होगा। इसलिए उन्होंने लाल किले की प्राचीर से जनसंख्या नियंत्रण, प्लास्टिक मुक्त भारत और जनसंरक्षण जैसे व्यापक जनहित के मुद्दों पर सबको साथ आने का आव्हान किया है। हमें प्रधानमंत्री जी के साथ कंधे से कंधा मिलाकर उनके निर्णयों में भागीदारी करना है। देश हित में मोदीजी के नेतृत्व में एक से बढ़कर एक निर्णय लिए जा रहे हैं। मोदीजी सचमुच देश के लिए वरदान साबित हो रहे हैं। यह बात भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, पूर्व मुख्यमंत्री एवं सदस्यता अभियान के राष्ट्रीय प्रभारी श्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को गोवा में सदस्यता अभियान के कार्यक्रम में कही।
मोदी सरकार ने 70 सालों के संघर्ष को 48 घंटों में खत्म किया
श्री चौहान ने कहा कि तत्कालीन प्रधानमंत्री नेहरू जी ने यदि सेना को रोका न होता तो चवा भी आज भारत का हिस्सा होता। नेहरू जी की गलतियों के कारण ही कश्मीर समस्या हुई। उन्होंने कहा कि जब राजा हरिसिंह जी ने भारत के साथ विलय किया था तब कोई धारा 370 जैसे विशेष दर्जे की मांग नहीं की थी । यह तो शेख अब्दुल्ला के प्रति नेहरू जी के विशेष मोह का परिणाम था। श्री चैहान ने कहा कि धारा 370 के खिलाफ देश मे 70 साल तक आंदोलन चला । एक देश मे दो प्रधान, दो निशान और दो विधान नहीं चलेंगे की मांग को लेकर जनसंघ के संस्थापक डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी ने अपना बलिदान दिया था। मोदी सरकार ने धारा 370 हटाकर डाॅ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी को सच्ची श्रृद्धांजलि दी है। श्री चैहान ने कहा कि मोदी सरकार ने 70 सालों के संघर्ष को 48 घंटों में खत्म किया।
पर्रिकर जी के समर्पण, सादगी और कार्यशैली पर देश कायल
कार्यक्रम में श्री चैहान ने पूर्व मुख्यमंत्री श्री मनोहर पर्रिकर जी का स्मरण करते हुए कहा कि श्री मनोहर पर्रिकर जी का समर्पण उनकी सादगी और उनकी कार्यशैली का सारा देश कायल था। देश उनको आदर्श मुख्यमंत्री के रूप में मानता था। रक्षा मंत्री के नाते भी उनका काम अभूतपूर्व था। उनका असमय हमें छोड़कर चले जाना हृदय विदारक घटना है। ऐसे नेता विरले ही मिलते हैं। श्री चौहान ने कहा कि जिस गति से स्व. मनोहर जी के नेतृत्व में गोवा प्रगति के पथ पर अग्रसर था, मुझे खुशी है कि उसी गति से मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत जी के मार्गदर्शन में इंफ्रास्ट्रक्चर हो या पर्यटन, हर क्षेत्र में गोवा आगे बढ़ रहा है।
कांग्रेस के कुछ नेता पाकिस्तान की भाषा बोल रहे हैं
श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि धारा-370 को लेकर कांग्रेस के कुछ नेता पाकिस्तान की भाषा बोल रहे हैं। चिदम्बरम जी बोल रहे हैं कि अगर कश्मीर में हिन्दू ज्यादा होते तो धारा 370 नहीं हटती। मैं उनसे पूछना चाहता हूँ कि यह किस तरह की भाषा है? जिन्होंने वर्षों तक तुष्टिकरण की राजनीति की है उनसे और क्या उम्मीद की जा सकती है? कांग्रेस नेता अधीर रंजन चैधरी का यह कहना कि कश्मीर का मामला यूएन में है! संसद में खड़े होकर यह बात बोलना बहुत ही शर्मनाक और निंदनीय है।
देश के विकास के लिए लोग भाजपा से जुड़ रहे हैं
उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी देश सेवा के लिए काम कर रही है। जनता में भाजपा का अपार समर्थन और विश्वास है। देश के विकास के महायज्ञ में भागीदार बनाने हेतु भारतीय जनता पार्टी ने सदस्यता अभियान प्रारम्भ किया। देश के विकास और तरक्की की चाह रखने वाले लोग भाजपा से जुड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि पूरे देश में जनता भाजपा से जुड़ने के लिए आतुर है और यही कारण है कि पार्टी का सदस्यता अभियान लक्ष्य से आगे पहुंचा है। जवाब देगी।

आंखों की रोशनी खोने वालों को 25-25 लाख
का मुआवजा दे सरकार : राकेश सिंह

17 August 2019
भोपाल। अस्पताल की लापरवाही के कारण 11 लोगों को अपनी आंखों की रोशनी गवांनी पड़ी है। उनमें से अधिकांश गरीब परिवारों के लोग हैं, जिनके लिए आंखें खराब हो जाने के बाद गुजारा करना या अपनी जिंदगी चलाना भी मुश्किल हो जाएगा। ऑपरेशन करने वाले अस्पताल का केवल लायसेंस रद्द किए जाने से इन मरीजों को आंखें ठीक नहीं होने वाली। इसलिए सरकार को प्रत्येक मरीज को 25-25 लाख रुपए का मुआवजा देना चाहिए, ताकि इस राशि से वे अपने भविष्य का इंतजाम कर सकें। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह ने यह मांग मुख्यमंत्री कमलनाथ से की है।
प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह ने इंदौर में आंख के ऑपरेशन के दौरान 11 रोगियों की रोशनी चले जाने की घटना को दुखद बताते हुए कहा कि यह इस बात उदाहरण है कि प्रदेश सरकार राष्ट्रीय अंधत्व निवारण कार्यक्रम जैसी महत्वपूर्ण योजना को कितनी गंभीरता से लेती है। श्री राकेश सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार ने इस गंभीर लापरवाही पर पर्दा डालने के लिए 20 हजार रुपए के मुआवजे, अस्पताल का लायसेंस कैंसिल करने जो निर्णय लिए हैं, वे मरीजों को हुए नुकसान की तुलना में कुछ भी नहीं है। आंखों की रोशनी चली जाने के बाद ये मरीज अपने परिवार के लिए कितनी बड़ी समस्या बनेंगे, इसका अंदाज उस बेटे की बात से लगाया जा सकता है, जिसने अपनी मां से कह दिया है कि वह जब तक उसकी आंखें ठीक न हो जाएं, अस्पताल में ही रहे। श्री सिंह ने कहा कि सरकार की लापरवाही ने उन 11 बुजुर्गों की जिंदगी को नर्क बना दिया है, जो अपनी आंखें अच्छी हो जाने की आस लिए ऑपरेशन के लिए आए थे। श्री राकेश सिंह ने प्रदेश सरकार से मांग की है कि वह लापरवाही के शिकार प्रत्येक मरीज को 25-25 लाख रुपए का मुआवजा दे और लापरवाही के दोषी डॉक्टरों तथा अधिकारियों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज करे।

अटलजी जैसे बेटे पर भारतमाता भी गर्व करती हैः शिवराजसिंह चौहान
प्रदेश भाजपा ने दी युगपुरुष अटलजी को प्रथम पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि

16 August 2019
भोपाल। गीता में एक श्लोक है, जिसमें बताया गया है कि भगवान को कैसे भक्त पसंद हैं। अटलजी के व्यक्तित्व में वे सारे गुण मौजूद थे। सहजता, सबको प्रेम करने वाले। भारतमाता के लिए जिंदगी न्यौछावर कर देने वाले। देश को विकास की नई ऊंचाईयों पर ले जाने वाले। भाजपा को नया स्वरूप प्रदान करने वाले। भारतमाता को भी अपने इस पुत्र पर नाज है। अटलजी जैसे लोग कभी मरते नहीं, अमर होते हैं। वे हमारी प्रेरणा हैं, ऐसे अटलजी के चरणों में हम सब प्रणाम करते हैं। यह बात पूर्व मुख्यमंत्री एवं पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री शिवराजसिंह चौहान ने पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटलबिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कही।
पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटलबिहारी वाजपेयी की प्रथम पुण्यतिथि पर शुक्रवार को प्रदेश भाजपा ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। सभी संभागीय एवं जिला केंद्रों पर श्रद्धांजलि सभाएं आयोजित की गईं। भोपाल में पार्टी के प्रदेश कार्यालय में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में भी स्व. अटलजी का स्मरण करते हुए उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई।
अद्भुत वक्ता थे अटलजी
श्री चौहान ने पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटलजी को याद करते हुए कहा कि वे अद्भुत वक्ता थे। बात करने की उनकी अपनी शैली थी। उनके इसी गुण के कारण उन्हें कांग्रेस सरकार के समय संयुक्त राष्ट्र में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेता बनाया गया। संसद में जब वे बोलते थे, तो सन्नाटा छा जाता था। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासभा में हिन्दी में भाषण देकर मातृभाषा का मान बढ़ाया। सारी दुनिया में मिलता था सम्मान
यह अटलजी के व्यक्तित्व की विशेषता थी कि उन्हें सिर्फ भारत ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में वैसा ही सम्मान मिलता था। प्रधानमंत्री बनने के बाद जब वे अमेरिका गए, तो वहां की संसद में वेदमंत्रों के उच्चारण के साथ उनका स्वागत किया गया। उस समय इस तरह का स्वागत बिरले ही नेताओं का किया जाता था। अटलजी सारी दुनिया के दिलों में राज करते थे।
अटलजी नहीं झुके, दुनिया को झुकना पड़ा
श्री चौहान ने कहा कि अटलजी जब प्रधानमंत्री बने, उस समय अमेरिका को सीआईए पर बहुत नाज था। अमेरिकी मानते थे कि नासा के उपग्रहों के जरिए पूरी दुनिया उनकी नजरों में हैं। लेकिन 1998 में अटलजी ने पोखरण में परमाणु परीक्षण कराया और किसी को कानोंकान खबर नहीं हुई। इससे बौखलाकर अमेरिका ने भारत पर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए, लेकिन अटलजी झुके नहीं। आखिरकार दुनिया को ही भारत के सामने झुकना पड़ा और सारे प्रतिबंध हटा लिए गए।
अपने कामों से याद किए जाएंगे अटलजी
श्री चौहान ने कहा कि अटलजी भले ही हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन वे अपने कामों से हमेशा याद रखे जाएंगे। उन्होंने भारत को परमाणु शक्ति संपन्न राष्ट्र बनाया। अंतराष्ट्रीय स्तर पर देश की प्रतिष्ठा, इन्फ्रास्ट्रक्चर का विकास, मानव संसाधन विकास ये अटलजी के संकल्प थे। उन्होंने प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना शुरू की, जिसने देश की कायापलट दी। गांव-गांव पक्की सड़कों से जुड़ गया। देश में विश्वस्तरीय हाईवे बने। उनके सारे काम गिनाएं तो घंटे लग जाएंगे। पानी रोको-पानी बचाओ, पर्यावरण की चिंता करो, भारतीय संस्कृति को पल्लवित करो ये सभी अटलजी के संकल्प थे। उन्होंने भारतीय राजनीति में ऐसा सुनहरा अध्याय जोड़ा कि पूरा देश फक्र करता है।
फूलों से कोमल, वज्र से कठोर थे अटलजी
1999 में कारगिल में घुसपैठ हुई, अटलजी ने पूरी कठोरता से घुसपैठियों को खदेड़ा। उस समय जो सैनिक कारगिल जैसी जगहों पर शहीद हो जाते थे, उनके शव उनके घर नहीं भेजे जाते थे, वहीं अंतिम संस्कार कर दिया जाता था। लेकिन अटलजी ने शहीद सैनिकों के शवों को उनके घर पहुंचाने की व्यवस्था की ताकि उनके परिजन उनके अंतिम दर्शन कर सकें। शहीदों को श्रद्धांजलि देने जनसमुदाय उमड़ने लगा और अटलजी ने देश में शहादत के मायने बदल दिए।
इस अवसर पर पूर्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, श्री विश्वास सारंग, प्रदेश प्रवक्ता श्री आलोक संजर, श्री राहुल कोठारी, जिला अध्यक्ष श्री विकास विरानी, श्री सुमित ओरछा, निगम अध्यक्ष श्री सुरजीत सिंह चौहान, श्री अनिल अग्रवाल, पूर्व विधायक श्री रमेश शर्मा, श्री धु्रवनारायण सिंह, श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, श्री रामदयाल प्रजापति, श्री जितेन्द्र पाल सिंह गिल, श्री चेतन सिंह, श्रीमती वंदना जाचक, श्रीमती भावना सिंह, श्री भगवानदास सबनानी, श्री राजेन्द्र गुप्ता, श्री अशोक सैनी सहित अन्य नेता एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।

लोकतंत्र सेनानी नहीं होते, तो देश में नहीं बचता लोकतंत्रः शिवराजसिंह चौहान
स्वतंत्रता दिवस पर भारतीय जनता पार्टी ने किया लोकतंत्र सेनानियों का सम्मान

16 August 2019
भोपाल। हर तरह की परेशानियां सहते हुए, तमाम कष्ट उठाते हुए उन्होंने लोकतंत्र की रक्षा की। सरकार के दमनचक्र के चलते कितने ही लोकतंत्र सेनानियों ने दम तोड़ दिया, लेकिन वे झुके नहीं, डटे रहे। यदि ये लोकतंत्र सेनानी नहीं होते, तो देश में लोकतंत्र भी नहीं बचता। यह बात प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री शिवराजसिंह चौहान ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रदेश कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में लोकतंत्र सेनानियों का सम्मान करते हुए कही। उन्होंने लोकतंत्र सेनानियों का शॉल-श्रीफल से सम्मान किया। लोकतंत्र सेनानियों का सम्मान अपराध नहीं
श्री चौहान ने कहा कि उस समय प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी तानाशाह बन गई थीं। यदि लोकतंत्र सेनानी न होते, तो पता नहीं देश का क्या स्वरूप होता। हमें लगा कि लोकतंत्र सेनानियों का सम्मान होना चाहिए। उनका सम्मान करके हम पाप नहीं कर रहे, अपराध नहीं कर रहे। उनके परिवार के परिवार तबाह हो गए थे, इसलिए हमारी सरकार ने उन्हें सम्मान निधि दी थी। श्री चौहान ने कहा कि स्वतंत्रता दिवस पर जिस तरह स्वतंत्रता सेनानियों का सम्मान करते हैं, उसी तरह लोकतंत्र बचाने वालों का सम्मान भी होना चाहिए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार ने लोकतंत्र सेनानियों का जो अपमान किया है, यह सहन नहीं किया जाएगा।
कई परिवार तबाह कर दिए गए
लोकतंत्र बचाने की इस लड़ाई में सरकार ने कई परिवार तबाह कर दिए। कई गरीब कार्यकर्ता थे, रोजी-रोटी चलाते थे, किसी की दुकान थी, कोई छोटा-मोटा काम करता था, सभी के धंधे चौपट हो गए। उनके बच्चे सड़कों पर आ गए। परिवार तबाह और बर्बाद हो गए। लेकिन उन्होंने दमदारी के साथ लड़ाई लड़ी। वे पूरी ताकत के साथ खड़े रहे और लोकतंत्र बचाया। लोकतंत्र सेनानियों के इस संघर्ष के रूप में आजादी की तीसरी लड़ाई लड़ी गई। अगर ना लड़ते, तो ना बचता लोकतंत्र। पूरा देश कैदखाने में तब्दील हो गया था। न अपील, न वकील और न दलील, कुछ नहीं चलता था। पकड़ो और ठूंसो, मारो और जेल में बंद कर दो, बस यही चलता था।
बैठक में वरिष्ठ नेता श्री तपन भौमिक, श्री रघुनंदन शर्मा, पूर्व सांसद श्री आलोक संजर, जिला अध्यक्ष श्री विकास वीरानी सहित लोकतंत्र सेनानी उपस्थित थे।

भाजपा कार्यालय में ध्वजारोहण
16 August 2019
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश कार्यालय पं. दीनदयाल परिसर में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर गुरुवार को ध्वजारोहण किया गया। राष्ट्रीय ध्वज फहराते हुए प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने प्रदेशवासियों और पार्टी कार्यकर्ताओं को हार्दिक बधाई दी।
स्वाधीनता दिवस के अवसर पर भाजपा प्रदेश कार्यालय में आयोजित ध्वजारोहण कार्यक्रम में पार्टी पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रीय ध्वज को सलामी दी। ध्वजारोहण के उपरांत मिष्ठान्न वितरण भी किया गया।
इस अवसर पर वरिष्ठ नेता श्री रघुनंदन शर्मा, प्रदेश प्रवक्ता श्री आलोक संजर, प्रदेश कार्यालय मंत्री श्री सत्येन्द्र भूषण सिंह, श्री राजेन्द्रसिह राजपूत, श्री तपन भौमिक, जिला अध्यक्ष श्री विकास विरानी, श्री अनिल सप्रे, श्री अंशुल तिवारी, श्री अशोक सैनी, श्री अशोक चौहान,, श्री बृजेश रावत, सुश्री सरिता देशपाण्डे, श्रीमती हंसकुंवर राजपूत, श्री भगत सिंह कुशवाह,श्री रामप्रकाश वंशकार, श्रीमती भावना सिंह, श्रीमती पुष्पा राय, श्रीमती सविता यादव, श्री कौशल्या रजक सहित पार्टी के जिला पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

देश और प्रदेश के विकास में सुषमा जी का अतुलनीय योगदान --- गोपाल भार्गव कार्यकर्ता सम्मेलन मे शामिल हुए नेताप्रतिपक्ष
10 August 2019
सागर। आदरणीय सुषमा जी ने अपने कर्म के बल पर राजनीति में एक मिसाल प्रस्तुत की। सुषमा जी भारतीय राजनीति का वह चेहरा है जो हर भारतीय के राष्ट्र सेवा के भाव को प्रज्वलित करता रहेगा। उनसे जुड़ी स्मृतियां हर कार्यकर्ता और आम नागरिक को कर्तव्य पथ के लिए उर्जित करेगी। यह बात मध्यप्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने गुरुवार को गढ़ाकोटा में आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में मे स्व. सुषमा जी का पुण्यस्मरण करते हुए कही। श्री भार्गव ने कहा कि केंद्रीय मंत्री रहते हुए सुषमा जी ने मध्यप्रदेश को कई सौगाते दी। देश और प्रदेश के विकास में उनका योगदान अतुलनीय है।
गुरुवार को गढ़ाकोटा में रहली विधानसभा के कार्यकर्ताओं का सम्मेलन आयोजित हुआ। सम्मेलन के पूर्व भारतीय जनता पार्टी की प्रखर वक्ता एवं पूर्व विदेश मंत्री स्वर्गीय श्रीमती सुषमा स्वराज के निधन पर कार्यकर्ताओं ने श्रद्धांजलि अर्पित कर उनका पुण्य स्मरण किया। मध्यप्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि प्रशासनिक और संगठन कौशल की धनी श्रीमती सुषमा जी के निधन से एक युग का अंत हुआ है।
*सुषमा जी ने दायित्वों को सुशोभित किया*
उन्होंने कहा कि दायित्व पर रहकर व्यक्तियों की शोभा बढ़ती है लेकिन सुषमा जी ने विभिन्न दायित्व पर रहकर जो काम किया है, उससे दायित्व सुशोभित हुए है। उन्होंने छात्र राजनीति से लेकर विधायक, सांसद, मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री के रूप में अलग-अलग दायित्वों का न सिर्फ सफल निर्वहन किया बल्कि हर दायित्व में अपने काम की अमिट छाप छोड़ी।
*हर कार्यकर्ता के लिए आदर्श है सुषमा जी*
नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने सम्मेलन में कहा कि आज कार्यकर्ताओं के लिए पार्टी का काम करने के लिए अनुकूल माहौल है लेकिन एक समय था जब भाजपा की सदस्यता लेने में लोग कतराते थे। आज अगर हम सर्वोच्च के लिए अग्रसर है तो उसमें जनसंघ ओर भाजपा की हमारी कई पीढ़ियां खपी है। उन्होंने आदरणीय सुषमा जी को एक आदर्श कार्यकर्ता बताते हुए कहा सुषमा जी जैसे नेताओं ने विपरीत परिस्थितियों में पार्टी का काम किया और आज हमारे सामने विश्व के सबसे बड़े संगठन के रूप में भाजपा खड़ी है। हमारे लिए सुषमा जी का व्यक्तित्व एक आदर्श है। उन्होंने कहा कि सदस्यता अभियान के माध्यम से हमें संगठन विस्तार की परंपरा को आगे बढ़ाना है।

कांग्रेस ने कभी नहीं चाहा कश्मीर समस्या का हल : शिवराज सिंह
9 August 2019
तिरुवनंतपुरम। कांग्रेस के नेताओं में पाकिस्तान का हितैषी बनने की होड़ लगी है। कांग्रेस सांसद अधीर रंजन समेत अन्य नेताओं के बयानों से यह स्पष्ट हो जाता है कि कांग्रेस कभी यह चाहती ही नहीं थी कि कश्मीर समस्या का कोई हल निकले। यह बात पूर्व मुख्यमंत्री एवं पार्टी के सदस्यता अभियान के राष्ट्रीय प्रभारी श्री शिवराजसिंह चौहान ने तिरुवनंतपुरम के कोल्लम में सदस्यता अभियान संबंधी बैठकों को संबोधित करते हुए कही।
पाकिस्तानी हो चली कांग्रेस की विचारधारा
श्री चौहान ने कहा कि कश्मीर के लिए डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी ने अपनी जान तक दे दी, लेकिन देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी (कांग्रेस) का रवैया देखकर जरूर उनकी आत्मा दुःखी हो रही होगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अपना मानसिक संतुलन खो दिया है और उसकी विचारधारा अब पाकिस्तानी हो चली है। चाहे सलमान ख़ुर्शीद हों या मणिशंकर अय्यर हों, इन सभी के पाकिस्तान प्रेम ने समय-समय पर देश को शर्मसार किया है। अब कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कश्मीर की तुलना हिटलर के नाजी कैम्प से करके यह सिद्ध कर दिया है कि इस पार्टी का खून पूरी तरह से पाकिस्तानी हो चुका है।
सुषमा दीदी की कमी हमेशा खलेगी
श्री चौहान ने पूर्व विदेश मंत्री स्व. श्रीमती सुषमा स्वराज को याद करते हुए कहा कि मैंने अपनी जिंदगी में कभी यह नहीं सोचा था कि किसी कार्यक्रम में दीदी को इस तरह श्रद्धांजलि दूँगा। सभी का मन बहुत भारी है और पीड़ा से भरा हुआ है, फिर भी हम सब काम कर रहे हैं,क्योंकि हम भाजपा कार्यकर्ता हैं।कर्म ही हमारा पहला धर्म है। उन्होंने कहा कि सुषमा दीदी, सदैव अपने कार्यों और विचारों से हमारे साथ रहेंगी।
आइये, शहीदों के सपनों का भारत बनाएं
श्री चौहान ने भारत छोड़ो आन्दोलन की चर्चा करते हुए कहा कि इस आंदोलन की शुरुआत 1942 में आज ही के दिन हुई थी। मां भारती की स्वतंत्रता के लिए बलिदान देने वाले सपूतों के चरणों में विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। उन्होंने कहा कि अब हम सब गरीबी, आतंकवाद और भ्रष्टाचार भारत छोड़ो आंदोलन शुरू करेंगे। आइये, इस आंदोलन को सफल बनाएं और शहीदों के सपनों के भारत का निर्माण करें।
केरल तेजी से हो रहा भगवामय
सदस्यता अभियान के राष्ट्रीय प्रभारी श्री चौहान ने कहा कि केरल में भारतीय जनता पार्टी के सदस्यता अभियान को लेकर जो उत्साह दिखाई दे रहा है, वह वास्तव में आनन्द देने वाला है। उन्होंने कहा कि इस अभियान के प्रति केरल के नागरिकों एवं कार्यकर्ताओं में असीम उत्साह है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रनिर्माण के इस अभियान में भाग लेने हेतु असंख्य नागरिक भाजपा परिवार का हिस्सा बन रहे हैं और केरल भी तेजी से भगवामय होता जा रहा है। श्री चौहान ने कार्यकर्ताओं से सदस्यता अभियान के दौरान पेड़ लगाने की अपील करते हुए कहा कि धरती पर जीवन बचाने के लिए पेड़ सबसे महत्वपूर्ण हैं। हर व्यक्ति यदि एक पेड़ भी लगाए, तो धरा समृद्ध होगी।

पैसे देकर पत्थर फिंकवाने वाले अब कर रहें है कश्मीरियों का अपमान : राकेश सिंह प्रदेश अध्यक्ष ने पूछा- कांग्रेस बताए वह 370 के समर्थन में है या उसे हटाने के पक्ष में
9 August 2019
भोपाल। भारत लोकतांत्रिक व्यवस्था के समर्थन में खड़े हो रहे कश्मीरियों के खिलाफ कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद का बयान दुर्भाग्यपूर्ण है। जो लोग पैसे देकर कश्मीर में सुरक्षा बलों पर पत्थर फिंकवा रहे थे वही लोग अब कश्मीरियों की नीयत पर सवाल उठाकर उनका अपमान कर रहे हैं। दरअसल कश्मीर में लोकतंत्र की बहार आने से जिन नेताओं की दुकान बंद हो रही है वे घबराए हुए है। आने वाले दिनों में कश्मीर में विकास होगा और लोगों को रोजगार मिलेंगे और सभी कश्मीरी अपने आपको भारतवासी होने पर गर्व महसूस करेंगे। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह ने गुरुवार को मीडिया से चर्चा करते हुए कही।
कांग्रेस 370 पर स्पष्ट करे अपना रवैया
प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह ने कहा कि कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों के राष्ट्रीय और प्रादेशिक नेता कश्मीर से 370 हटाने का समर्थन कर रहे हैं या विरोध कर रहे हैं। यह स्पष्ट करना चाहिए। क्योंकि कांग्रेस के तमाम बड़े नेता और युवा 370 हटाए जाने को भारत की अखण्डता के लिए उठाया गया उचित कदम मान रहे है। वहीं गुलाम नबी आजाद और अधीर रंजन जैसे लोग 370 हटाए जाने का विरोध कर रहे है। कांग्रेस को अपनी स्थिति स्पष्ट करना चाहिए, क्योंकि यह वही कांग्रेस है जिसने धारा 370 की आड में कश्मीरियों का शोषण किया और उन्हें अभावग्रस्त बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
नरोत्तम मिश्रा को टारगेट करने से बाज आए सरकार
श्री राकेश सिंह ने पूर्व मंत्री श्री नरोत्तम मिश्रा को लेकर बहुत स्पष्ट शब्दों में कहा है कि कांग्रेस की सरकार दुराग्रही होकर पूर्व मंत्री श्री नरोत्तम मिश्रा को टारगेट कर रही है। हमें किसी जांच से कोई आपत्ति नहीं है लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेता श्री नरोत्तम मिश्रा को लेकर जिस प्रकार का द्वेषपूर्ण वातावरण सरकार बना रही है उसे भारतीय जनता पार्टी सहन नहीं करेगी। इस विषय को लेकर हम चुप बैठने वाले नहीं है। पूरी पार्टी श्री नरोत्तम मिश्रा के साथ पूरी ताकत के साथ खड़ी है।
जनता के हित से जुड़े मैनेजमेंट को समझे प्रदेश सरकार
प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह ने प्रदेश की कमलनाथ सरकार द्वारा पुजारियों को प्रशिक्षण देने के लिए टेंपल मैनेजमेंट इंस्टीटयूट की व्यवस्था को लेकर कहा कि सरकार को इस तरह के कदम उठाने से पहले उस मैनेजमेंट को समझना होगा जो प्रदेश की जनता के हित से जुडा है। लेकिन सरकार इस दिशा में कोई प्रयास नहीं कर रही है। श्री सिंह ने कहा कि कांग्रेस की प्रदेश सरकार बेशर्मी से तबादला उद्योग को ही बढ़ावा दे रही है और वह सिर्फ इसी एक काम में सफल नजर आ रही है।

‘अगस्त क्रांति’ दिवस पर युवा मोर्चा निकालेगा मशाल जुलूस 9 अगस्त को जिला केन्द्रों पर प्रदेश सरकार के खिलाफ होगा प्रदर्शन
9 August 2019
भोपाल। भारतीय जनता युवा मोर्चा अगस्त क्रांति दिवस 9 अगस्त को प्रदेश के सभी जिला केन्द्रों पर युवाओं के साथ प्रदेश सरकार द्वारा की गयी वादाखिलाफी और नाकामियों को लेकर मशाल जुलूस निकालेगा।
मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री अभिलाष पाण्डे ने कहा कि 9 अगस्त को युवा मोर्चा अगस्त क्रांति दिवस मनायेगा। जिला केन्द्रों पर शाम को मशाल जुलूस निकालकर प्रदेश सरकार की नाकामियों और युवाओं को लेकर की गयी वादाखिलाफी के विरोध में आंदोलन का शंखनाद करेगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव में प्रदेश के युवाओं से बडे बडे वादे किए थे और सत्ता आते ही उन वादों से मुकर रही है। युवा मोर्चा प्रदेश भर में प्रदर्शन कर युवाओं की आवाज सरकार तक पहुंचायेगा और युवाओं के हित में उन्हें निर्णय लेने पर मजबूर करेगा। भोपाल में चूना भट्टी, काली मंदिर के पास मशाल जुलूस कार्यक्रम होगा। वहीं प्रदेश अध्यक्ष श्री अभिलाष पाण्डे जबलपुर में मशाल जुलूस का नेतृत्व करेंगे।

श्रद्धांजलि सभा सुषमा जी के जीवन का हर क्षण देश को समर्पित रहा : राकेश सिंह मध्यप्रदेश के कार्यकर्ता अधिक भाग्यशाली, जिन्हें सुषमा जी का सानिध्य मिला
8 August 2019
भोपाल। मध्यप्रदेश के कार्यकर्ता भाग्यशाली हैं, जिन्हें सुषमा स्वराज जी का मार्गदर्शन मिला। आज भले ही वह हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन वे विचारों से हमेशा अजर अमर रहेंगी। सुषमा जी ने अपने जीवन के अंतिम क्षण तक देश की सेवा की। विचार और संगठन के लिए अपना तिल-तिल दिया। आदरणीय सुषमा जी ऐसी पुस्तक थीं जिसमें ज्ञान, संवेदनशीलता, नैतिकता, कर्तव्यबोध और अदभुत संगठन क्षमता समाहित थी। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद श्री राकेश सिंह ने गुरूवार को प्रदेश कार्यालय में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में स्व. सुषमा जी का पुण्य स्मरण करते हुए कही। प्रदेश अध्यक्ष ने प्रदेश के कार्यकर्ताओं की ओर से श्रीमती सुषमा स्वराज जी के चरणों में श्रद्धासुमन अर्पित किए। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती ने भी श्रद्धासुमन अर्पित किए।
भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यालय, पं. दीनदयाल परिसर में गुरूवार को वरिष्ठ नेत्री एवं पूर्व विदेश मंत्री स्व. श्रीमती सुषमा स्वराज को पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा श्रद्धांजलि अर्पित की गयी। सभा में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह ने श्रीमती सुषमा स्वराज जी से जुड़े संस्मरण साझा करते हुए कहा कि आदरणीय सुषमा दीदी अद्भुत व्यक्तित्व की धनी थीं। जब मैं जिला अध्यक्ष था और पहली बार सांसद का टिकट मिला, उस दौरान उनसे मिलना हुआ। उसके बाद लगातार एक बड़ी बहन के रूप में मुझे उनका स्नेह मिलता रहा। उनकी जिह्वा पर मां सरस्वती विराजमान थीं। उनको सदन में सुनने के लिए सांसद लालायित रहते थे। उनके द्वारा रखे गए विषयों में हमेशा नवीनता के साथ ही सार्थकता भी होती थी। सदन में वे अपनी बुद्धियुक्ति से किए गए प्रश्न और उठाए गए मुद्दों से सब को निरुत्तर कर देती थी।
हर जिम्मेदारी को निष्ठा के साथ निभाया
श्री राकेश सिंह ने कहा कि पार्टी संगठन ने सुषमा दीदी को जो भी जिम्मेदारी दी, उसे पूर्ण निष्ठा और कर्तव्य परायणता के साथ उन्होंने पूरा किया। हर काम में वे अपने कार्यशैली की अमिट छाप छोड़ती थी। विदेश मंत्री रहते उन्होंने उस मंत्रालय को जो आमजन की पहुंच से दूर रहता था, उसे लोगों के बीच अपनेपन की भावना से सुशोभित किया। एक ट्वीट के जरिए वे लोगों की समस्याओं का समाधान करती थीं। उनके कार्यकाल में ऐसे अनेक उदाहरण हैं जिसमें उन्होंने विदेशों में फंसे भारतीयों की त्वरित मदद की। उनमें गजब की संवेदनशीलता के साथ व्यवस्था के प्रति समर्पण भी था। सुषमा जी सांस्कृतिक अस्मिता की प्रतीक थीं
श्रद्धांजलि सभा में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत सह संघचालक श्री अशोक पाण्डे ने श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा कि श्रीमती सुषमा स्वराज का अचानक निधन हम सभी के लिए आश्चर्यजनक घटना है। उन्होंने कहा कि हर विषय पर उनकी अदभुत पकड़ थी। वाणी पर उनका अधिकार था। आदर्श भारतीय नारी कैसी होती है, उसका प्रत्यक्ष उदाहरण श्रीमती सुषमा स्वराज थीं। उन्होंने कहा कि जब सदन में तथ्यों और तर्को के आधार पर बोलती थीं तो ऐसा लगता था मानो कोई शेरनी गर्जना कर रही हो। उन्होंने भारतीय जीवन को जीते हुए भारतीय संस्कृति के संवर्धन में अमूल्य योगदान दिया। श्री पाण्डे ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मध्यभारत प्रांत की ओर से श्रीमती सुषमा स्वराज को श्रद्धासुमन अर्पित किए।
आत्मविश्वास से ओतप्रोत भारतीय विदूषी थीं : भगत
प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत ने कहा कि वे एक संवेदनशील महिला थीं। उन्होंने अपनी कार्यकुशलता के बल पर समाज में एक अलग छाप छोड़ी। वे संगठनात्मक क्षमता की धनीं थी। बूथ स्तर तक के कार्यकर्ताओं से उनका सीधा संवाद था। श्री भगत ने बताया कि लोकसभा चुनाव के पूर्व सुषमा जी ने हर विधानसभा के पोलिंग बूथ के कार्यकर्ताओं और मंडल की बैठकें ली। वे माइक्रो मैनेजमेंट में माहिर थीं। उनके लोकसभा क्षेत्र के प्रत्येक पोलिंग कार्यकर्ता तक उनकी पहुंच थी। उन्होंने कार्यकर्ताओं में कार्य के प्रति प्रेरणा जगाने का काम किया। सांसद रहते वे हर माह जिलों के पदाधिकारी, प्रमुख कार्यकर्ताओं के साथ नियमित बैठकें करती थी। अपनी सांसद निधि का कैसे जनहित के कार्यो में बेहतर उपयोग हो, यह दीदी से सीखा जा सकता था। श्री भगत ने कहा कि वे मातृत्व और स्नेह से भरी हुई, आत्मविश्वास से ओतप्रोत भारतीय विदूषी थीं। उन्होंने भारतीयता और भारत को अपने अंदर विचारों के माध्यम से जीने का काम किया।
क्षेत्र की जनता से उनका सीधा संवाद था : रामपाल सिंह
वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मंत्री श्री रामपाल सिंह ने संस्मरण सुनाते हुए कहा कि आदरणीय सुषमा जी क्षेत्र के विकास और जनता की सेवा के लिए हमेशा तत्पर रहती थीं। बड़े दायित्व और व्यस्तताओं के बावजूद क्षेत्र के कार्यकर्ताओं और जनता से उनका सीधा संवाद था। विदिशा ही नहीं, प्रदेश को उन्होंने कई सौगातें दीं। उनका निधन न सिर्फ भारतीय जनता पार्टी बल्कि समूचे राष्ट्र की बड़ी क्षति है।
श्रद्धांजलि सभा में पूर्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, श्री नरोत्तम मिश्रा, श्री विश्वास सारंग, प्रदेश उपाध्यक्ष श्री रामेश्वर शर्मा, श्री विजेश लुणावत, श्री विनोद गोटिया, श्री तपन भौमिक, प्रदेश मंत्री श्री सरतेन्दु तिवारी, श्री पंकज जोशी, सांसद सुश्री प्रज्ञा ठाकुर, प्रदेश कार्यालय मंत्री श्री सत्येन्द्र भूषण सिंह, श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेन्द्र पाराशर, श्री रमेश शर्मा गुट्टू भैया, मुख्य प्रदेश प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय, प्रदेश प्रवक्ता श्री आलोक संजर, श्री राहुल कोठारी, श्री रजनीश अग्रवाल, श्री भागीरथ प्रसाद, जिलाध्यक्ष श्री विकास विरानी, श्रीमती सीमा सिंह, श्रीमती उषा चतुर्वेदी, सुश्री सरिता देशपाण्डे सहित अन्य नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने स्व. श्रीमती सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि दी।

भारत ही नहीं, सारी दुनिया की महिलाएं करेंगी सुषमा जी का अनुसरणः उमा भारती
8 August 2019
भोपाल। ईश्वर कुछ लोगों को बनाकर वह सांचा तोड़ देता है, जिससे उन्हें बनाया है और इसीलिए दोबारा वैसा ही मनुष्य नहीं बन पाता। सुषमा जी ऐसी ही थीं। जैसी वह थीं, वैसा कोई हो ही नहीं सकता। मैं सुषमा जी को श्रृद्धांजलि अर्पित करती हूं। सुषमा जी के व्यक्तित्व का सिर्फ देश नहीं, बल्कि सारी दुनिया की महिलाएं अनुसरण करेंगी। यह बात पूर्व केंद्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती ने गुरुवार को प्रदेश कार्यालय परिसर में मीडिया से चर्चा करते हुए कही। सुश्री उमा भारती पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व. सुषमा स्वराज की श्रद्धांजलि सभा में शामिल होने प्रदेश कार्यालय आई थीं।
पूर्व केंद्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि सुषमा जी के बारे में अखबारों में छपा है कि वह इस मामले में पहली महिला थीं, वह उस मामले में पहली थीं। लेकिन मैं आपको बताना चाहती हूं कि वह एक आदर्श गृहिणी और सफल राजनेता थीं। यही उनके व्यक्तित्व की विशिष्टता थी, जो सिर्फ भारतीय नारियों के लिए नहीं, बल्कि पूरे विश्व की नारियों के लिए आदर्श बन सकती है। वह बहुत अच्छी पत्नी, बहुत अच्छी मां, बहुत अच्छी बहन और बहुत अच्छी नेता थीं। उन्होंने कहा कि पहले भारत में यह धारणा थी कि जो महिलाएं राजनीति में सफल होती हैं, वह सिंगल होती हैं। लेकिन सुषमाजी ने उस धारणा को तोड़ दिया। उन्होंने भारतीय महिलाओं के सामने एक आदर्श रखा। सुषमा जी अपने पति का बहुत सम्मान करती थीं और अपनी बेटी की सभी छोटी से छोटी बातों का ध्यान रखा करती थीं।
सुश्री उमा भारती ने कहा कि सुषमा जी से मेरे आत्मीय संबंध थे। वह मेरी बड़ी बहन थीं, लेकिन मां जैसी थीं। केन-बेतवा प्रोजेक्ट में उनकी बहुत रूचि थी। मध्यप्रदेश के विकास में और देश के विकास में भी उनकी बहुत रूचि रहती थी। मैंने उनके जीवन से संयम, धैर्य और बहुत कुछ सीखा। कैसी भी परिस्थिति हो, मैंने कभी उनके चेहरे पर सिकन नहीं देखी। अक्सर सत्ता में रहने वाले लोग सत्ता के बिना बहुत बैचेन हो जाते हैं, लेकिन मैंने उनमें कभी बैचेनी नहीं देखी। सुषमा जी जब विदेश मंत्री थीं, उस समय एक भारतीय राजनेता का ममता भरा दिल पूरी दुनिया ने देखा। यूरोपीय देशों, अफ्रीकी देशों, अरब देशों, अमेरिका- हर जगह उन्हें सराहना मिली।

दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री बनी थीं सुषमा
8 August 2019
नई दिल्ली। हरियाणा के अंबाला से राजनीतिक सफर शुरू करने वाली सुषमा स्वराज का दिल्ली से गहरा नाता रहा है। वह दिल्ली की मुख्यमंत्री के पद पर पहुंचने वाली पहली महिला थीं। मुख्यमंत्री बनने से पहले वह दो बार दक्षिणी दिल्ली संसदीय क्षेत्र से चुनाव जीतकर अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री बनी थीं। बाद में वह दिल्ली की सियासत से दूर चली गईं, लेकिन यहां के भाजपा कार्यकर्ताओं से उनका नजदीकी संबंध बना रहा। सुषमा पहली बार दिल्ली के रास्ते लोकसभा पहुंची थीं। पार्टी ने उन्हें 1996 के लोकसभा चुनाव में अपना उम्मीदवार बनाया था।
उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार कपिल सिब्बल को पराजित किया था। उन्हें 13 दिनों की वाजपेयी सरकार में सूचना व प्रसारण मंत्री बनाया गया था। मार्च 1998 में हुए लोकसभा चुनाव में पार्टी ने फिर से उन्हें दक्षिणी दिल्ली सीट से मैदान में उतारा। वह कांग्रेस उम्मीदवार अजय माकन को हराकर दूसरी बार लोकसभा पहुंचीं और उन्हें एक बार फिर से सूचना व प्रसारण मंत्री की जिम्मेदारी दी गई। इसके साथ ही उन्हें दूरसंचार विभाग का अतिरिक्त प्रभार दिया गया। लेकिन, उसी वर्ष 13 अक्टूबर को उन्हें दिल्ली का मुख्यमंत्री बना दिया गया।
इसके बाद पार्टी उन्हीं के नेतृत्व में विधानसभा चुनाव लड़ा, लेकिन वह दिल्ली की सत्ता में भाजपा की वापसी कराने में असफल रहीं। विधानसभा चुनाव में भाजपा की पराजय के बाद वह तीन दिसंबर, 1998 को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। 53 दिनों तक दिल्ली की सत्ता संभालने के बाद वह केंद्र की सियासत में वापस लौट गईं।
दिल्ली से हमेशा रहा भावनात्मक जुड़ाव बेसक वह दिल्ली की चुनावी राजनीति से दूर चली गईं पर दो बार सांसद और मुख्यमंत्री रहने की वजह से यहां के कार्यकर्ताओं के साथ उनका भावनात्मक जुड़ाव हो गया और जीवन के आखिर तक वह उनसे जुड़ी रहीं। प्रत्येक चुनाव में भाजपा प्रत्याशियों के लिए वह बढ़ चढ़कर चुनाव प्रचार करती थीं और किसी भी तरह के परामर्श के लिए कार्यकर्ता भी बेहिचक उनके पास पहुंच जाते थे।

कश्मीर समस्या पैदा करने वाले कश्मीर की चिंता न करें: जिराती प्रदेश उपाध्यक्ष ने कहा-दिग्विजय सिंह भय और भ्रम फैलाने की बयानवाजी बंद करे
8 August 2019
भोपाल। पं. जवाहर लाल नेहरू के गलत फैसलों के कारण ही आज देश के सामने कश्मीर समस्या खड़ी हुई हैं। उनके गलत फैसलों का दंश पूरा देश भुगत रहा है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी सरकार कश्मीर समस्या के समाधान को लेकर बेहतर काम कर रही है। श्री दिग्विजय सिंह को चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री जीतू जिराती ने कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव श्री दिग्विजय सिंह के उस बयान पर प्रतिक्रिया में कही, जिसमें श्री दिग्विजय सिंह ने यह कहा था कि कश्मीर में जबरदस्ती करने की कोशिश हुई तो देश को काफी नुकसान होगा। श्री जीतू जिराती ने कहा कि श्री दिग्विजय सिंह शायद यह भूल गए है कि उन्हीं के नेता के कारण कश्मीर को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है।
श्री जीतू जिराती ने कहा कि आजादी के समय भारत में करीब 600 से अधिक रियासतों के विलय के लिए नियम बनाए गए थे, लेकिन दर्जन भर रियासतों को छोड़कर सभी का विलय तत्कालीन गृहमंत्री सरदार पटेल की मंशा अनुरूप भारत में हो गया। कश्मीर का मामला तत्कालीन प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू ने अपने पास रखा। उसे वे संयुक्त राष्ट्र संघ ले गए। जबसे कश्मीर समस्या चली आ रही है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने देश के सभी राज्यों की बेहतरी के लिए काम किए हैं। कश्मीर को लेकर केंद्र सरकार बेहतर काम कर रही है। यूपीए के समय घाटी, आतंकवाद और पत्थरवाजों से खौफजदा थी। जिसे घाटी की वादियों को भयमुक्त करने का काम मोदी सरकार ने किया है।
उन्होंने कहा कि कश्मीर को लेकर कांग्रेस के नेता भय और भ्रम का वातावरण पैदा करने की नाकाम कोशिश कर रहे हैं। लेकिन उन्हें यह समझ लेना चाहिए कि कांग्रेस समस्या और भारतीय जनता पार्टी समाधान का नाम है। कांग्रेस ने देश में जो-जो समस्याएं पैदा की हैं उन समस्याओं का भारतीय जनता पार्टी ने न सिर्फ समाधान करने की कोशिश की बल्कि उन समस्याओं को जड़ से समाप्त करने के प्रयास लगातार जारी हैं। उन्होंने ने कहा कि कांग्रेस नेता बेफिक्र होकर कश्मीर की चिंता छोड़ दें, क्योंकि देशहित और घाटी के हित में जो भी बेहतर होगा सेना वह काम करेगी।

सड़क दुर्घटना में 4 लोगों की मौत दुखद
8 August 2019
भोपाल। बड़वानी जिले के खड़ीखाम घाट पर 4 लोगों की दुर्घटना में मौत का समाचार बेहद दुखद है। दुर्घटना में घायल लोग शीघ्र स्वस्थ हों। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह एवं प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत ने दुर्घटना पर दुख व्यक्त करते हुए कही।
प्रदेश के बड़वानी जिले में रविवार सुबह हुई एक सड़क दुर्घटना में कुक्षी के तोरणमल दर्शन को जा रहे पांच लोगों की मौत हो गई, जबकि अन्य 10 से अधिक लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह एवं प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत ने मृतकों की आत्मिक शांति की कामना करते हुए कहा कि ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दे। उन्होंने कहा कि इस दुख की घड़ी में हम पीड़ित परिजनों के साथ हैं।

शोक संवेदना व्यक्त
8 August 2019
मध्यप्रदेश भारतीय जनता पार्टी के प्रदेष अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह, प्रदेष संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत एवं नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने डीजीयाना मीडिया गु्रप के ग्रुप चैनल हेड एवं डायरेक्टर श्री नवीन पुरोहित के पिताजी श्री रामेश्वर दयाल पुरोहित के असामयिक निधन पर शोक व्यक्त किया है और शोक संतप्त परिवार के प्रति गहन संवेदना व्यक्त की है।
पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अरविन्द सिंह भदौरिया, श्री विनोद गोटिया, श्रीमति रंजना बघेल, सुश्री उषा ठाकुर, श्री रामलाल रौतेल, श्री प्रदीप लारिया, श्री सुदर्शन गुप्ता, श्री रामेश्वर शर्मा, श्री विजेश लुणावत, श्री जीतू जिराती, प्रदेश महामंत्री श्री अजयप्रताप सिंह, श्री बंशीलाल गुर्जर, श्री मनोहर उंटवाल, श्री विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश मंत्री श्रीमति संपतियां उइके, श्री बृजेन्द्रप्रताप सिंह, श्रीमति कृष्णा गौर, श्री कन्हईराम रघुवंशी, श्री बुद्धसेन पटेल, श्री सरतेन्दु तिवारी, श्री रघुनाथ भाटी, श्री पंकज जोशी, सुश्री कविता पाटीदार, प्रदेश कोषाध्यक्ष श्री हेमंत खण्डेलवाल, प्रदेश कार्यालय मंत्री श्री सत्येन्द्र भूषण सिंह, श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, भोपाल संभाग के संभागीय संगठन मंत्री श्री आशुतोष तिवारी, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेन्द्र पाराशर, प्रदेश सह मीडिया प्रभारी श्री संजय गोविन्द खोचे, श्री उदय अग्रवाल एवं श्री सर्वेश तिवारी, प्रदेश मुख्य प्रवक्ता डाॅ. दीपक विजयवर्गीय, प्रदेश प्रवक्ता श्री आलोक संजर, प्रो. चिंतामणि मालवीय, श्री रजनीश अग्रवाल, श्री नागरसिंह चैहान, सुश्री राजो मालवीय, श्री हिदायतुल्लाह शेख, श्री राहुल कोठारी, श्री उमेश शर्मा, श्री राजपाल सिंह सिसोदिया ने श्री रामेश्वर दयाल पुरोहित के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

कश्मीर को अब मिलेगा सामाजिक न्याय और विकासः राकेश सिंह प्रदेश अध्यक्ष ने कहा-कश्मीर के देश की मुख्यधारा से जुड़ने में आ रही सबसे बड़ी बाधा दूर हुई
8 August 2019
भोपाल। अनुच्छेद 370 और 35 ए जम्मू-कश्मीर के देश की मुख्यधारा में शामिल होने की राह में सबसे बड़ी बाधा थी। एक देश, दो संविधान और दो निशान वाली व्यवस्था अतार्किक ही नहीं, बल्कि असंवैधानिक भी थी। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने देश से किए गए अपने वादे को निभाते हुए अनुच्छेद 370 और 35 ए को हटाने का जो निर्णय लिया है, वह स्वागत योग्य है और इससे जम्मू-कश्मीर तथा लद्दाख दोनों ही राज्यों के विकास का रास्ता साफ होगा। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह ने केंद्र सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 एवं 35 ए को हटाने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कही।
कश्मीर के विलय की शर्त नहीं थी 370
प्रदेश अध्यक्ष श्री सिंह ने अनुच्छेद 370 और 35 ए को जम्मू-कश्मीर के भारत के साथ रिश्ते की डोर बताए जाने पर विपक्षी दलों की भर्त्सना करते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर का भारत में विलय 1947 में हुआ था और उस समय न 370 थी और न ही 35 ए। विलय के दो साल बाद यानी 1949 में अनुच्छेद 370 का प्रावधान किया गया, जबकि संविधान के निर्माण में मुख्य भूमिका निबाहने वाले डॉ. भीमराव अंबेडकर इसके पक्ष में नहीं थे। इसे संसद में संक्षिप्त चर्चा के उपरांत अस्थायी उपबंध के रूप में पं. जवाहरलाल नेहरू की सरकार ने जोड़ा। उन्होंने कहा कि आजादी के 7 साल बाद 1954 में अनुच्छेद 35 ए को अनुच्छेद 368 का उल्लंघन करते हुए बिना संसद के सामने पेश किए संविधान में जोड़कर कश्मीर को शेष भारत के साथ कभी न जुड़ने देने की पुख्ता व्यवस्था कर दी गई। श्री सिंह ने कहा कि इन दोनों अनुच्छेदों को जोड़ने वाली कांग्रेस सरकार न जम्मू-कश्मीर का भला चाहती थी और न देश का। बल्कि उसके मानस में सिर्फ अपने और जम्मू-कश्मीर के कुछ रसूखदार राजनीतिक परिवारों के हितों की रक्षा का विचार था।
सामाजिक अन्याय की वजह थे 370 और 35 ए
श्री सिंह ने कहा कि संविधान में अस्थायी उपबंध के तौर पर जोड़ी गई 370 और 35 ए को तुच्छ राजनीतिक स्वार्थों के कारण कांग्रेस सरकारों ने न सिर्फ चलने दिया, बल्कि उन्हें कश्मीरियों का विशेषाधिकार बना दिया। वास्तव में ये दोनों ही अनुच्छेद जम्मू-कश्मीर में सामाजिक अन्याय की वजह बन गए थे, जिनके अमानवीय दुष्परिणाम देश के अन्य हिस्सों से यहां आकर बसे लोगों को कई पीढ़ियों झेलना पड़ रहे थे। श्री सिंह ने कहा कि क्या यह अन्याय नहीं था कि राज्य से बाहर शादी करने वाले बेटे की संतानों को तो पूरा हक मिले, लेकिन बेटी की संतानों को वहां का नागरिक भी न माना जाए? क्या ये अन्याय नहीं था कि सालों पहले पंजाब से सरकार के बुलावे पर जम्मू-कश्मीर गए वाल्मीकि समाज के लोगों से तरक्की का हक छीनकर उन्हें सिर्फ सफाई करने पर मजबूर किया जाए? क्या यह अन्याय नहीं था कि पाक अधिकृत कश्मीर और अन्य हिस्सों से 1947 में और उसके बाद आए शरणार्थियों से दोयम दर्जें का व्यवहार किया जाए ? क्या यह अन्याय नहीं था कि राज्य के अनुसूचित जाति, जनजाति एवं अल्पसंख्यक वर्ग के लोगों को आरक्षण से वंचित किया जाए ? श्री सिंह ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री श्री अमित शाह को धन्यवाद देते हुए कहा उनकी सरकार के एक निर्णय ने जम्मू-कश्मीर राज्य के लाखों को पूरे सम्मान से जीने का हक प्रदान किया है।
हास्यास्पद और असंवैधानिक थे दोनों अनुच्छेद
श्री सिंह ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के विलय के बाद संविधान में जोड़े गए अनुच्छेद 370 और 35 ए हास्यास्पद ही नहीं, बल्कि असंवैधानिक भी थे। उन्होंने कहा कि देश की सभी विधानसभाओं का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है, लेकिन जम्मू-कश्मीर विधानसभा कार्यकाल 6 वर्ष का था। देश के सभी राजनीतिक दल इस नारे को दोहराते थे कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, लेकिन देश के अन्य हिस्सों के लोग न वहां बस सकते थे, न सरकारी नौकरी कर सकते थे और न ही वोट दे सकते थे। ये कैसा अभिन्न अंग था ? उन्होंने कहा कि देश की संसद जो कानून बनाती थी, वो पूरे देश में लागू हो जाते थे, लेकिन जम्मू-कश्मीर में नहीं होते थे। अभी भी शिक्षा का अधिकार, सूचना का अधिकार, मनी लांड्रिंग विरोधी कानून, कालाधन और भ्रष्टाचार विरोधी कानून उस जम्मू-कश्मीर में लागू नहीं होते, जिसे हम देश का अभिन्न अंग कहते नहीं थकते। श्री सिंह ने कहा कि देश के नागरिकों के बीच भेदभाव पैदा करने वाले ये दोनों अनुच्छेद संविधान के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन थे और कानून के समक्ष हर नागरिक की समानता तथा संविधान की मूल रचना के भी खिलाफ थे। अब प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की सरकार ने इन दोनों अनुच्छेदों को हटाने का निर्णय लेकर इस भेदभाव को खत्म कर दिया है और देश के नागरिकों की दशकों पुरानी मांग को पूरा कर दिया है।

केंद्र शासित प्रदेश बनकर तेजी से विकास करेगा लद्दाखः डॉ. विजयवर्गीय
8 August 2019
भोपाल। लद्दाख एक शांत क्षेत्र रहा है, जहां कभी भी आतंकवाद, हिंसा या अराजकता वाली स्थिति नहीं रही। इसके बावजूद वह विकास की दौड़ में उतना आगे नहीं बढ़ सका, जितना देश के अन्य राज्य बढ़ गए हैं। इसकी वजह यह थी कि वह लंबे समय से अशांत जम्मू-कश्मीर का अंग था। अब केंद्र सरकार ने उसे अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाने का निर्णय लिया है, जिसके बाद अब लद्दाख तेजी से विकास करेगा। यह बात भारतीय जनता पार्टी के मुख्य प्रदेश प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय ने लद्दाख को अलग प्रदेश बनाए जाने के केंद्र सरकार के निर्णय पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कही।
डॉ. दीपक विजयवर्गीय ने कहा कि बौद्ध धर्म के अनुयायियों और स्थानीय आबादी की बहुलता वाला लद्दाख एक खूबसूरत, शांत और सभ्य क्षेत्र रहा है। लेकिन जम्मू-कश्मीर राज्य का अंग होने के कारण यहां भी वही संवैधानिक प्रावधान लागू होते थे, जो जम्मू-कश्मीर में लागू होते थे। इसके अलावा चाहे जम्मू-कश्मीर का आतंकवाद हो या राजनीतिक अस्थिरता, उसका खामियाजा लद्दाख को भी भुगतना पड़ता था और इनसे वहां का विकास प्रभावित हो रहा था। डॉ. विजयवर्गीय ने आशा जताई कि अब सीधे केंद्र सरकार के अधीन आ जाने पर राज्य का तेजी से विकास होगा तथा व्यापार-व्यवसाय में भी तरक्की होगी। उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षों में लद्दाख के लोगों के जीवन स्तर में उल्लेखनीय बदलाव आएगा।

संविधान का अपमान करने वाले पीडीपी सांसदों के खिलाफ हो कार्रवाई : आलोक संजर
8 August 2019
भोपाल। पीडीपी के सांसदों ने राज्यसभा में देश के संविधान का अपमान किया है। उनके खिलाफ कठोरतम कार्रवाई की जानी चाहिए ताकि अन्य लोग उससे सबक ले सकें। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता श्री आलोक संजर ने पीडीपी के दो सांसदों द्वारा राज्यसभा में भारतीय संविधान की प्रतियां फाड़ने की कोशिश करने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कही। श्री आलोक संजर ने कहा कि पीडीपी के दो सांसदों मीर फैयाज और नजीर अहमद लावे ने राज्यसभा में उस समय संविधान की प्रतियां फाड़ने का प्रयास किया है, जब केंद्रीय गृहमंत्री श्री अमित शाह वक्तव्य दे रहे थे। श्री संजर ने कहा कि एक सांसद जो लाखों लोगों का प्रतिनिधित्व करता है, उसके द्वारा इस तरह का आचरण किया जाना अशोभनीय है। श्री आलोक संजर ने कहा कि दोनों सांसदों ने उस समय संविधान के अपमान का प्रयास किया, जब देश के करोड़ों लोग राज्यसभा की कार्रवाई का सीधा प्रसारण देख रहे थे। उन्होंने उप सभापति महोदय से मांग की कि दोनों सांसदों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए ताकि अन्य लोग सबक ले सकें और देश की जनता में यह संदेश जाए कि चाहे सांसद हों या आम नागरिक किसी को भी संविधान के अपमान की इजाजत नहीं है और ऐसा करने पर किसी भी व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, चाहे वह किसी भी पद पर हो।

पिछड़ा वर्ग मोर्चा ने पूरे प्रदेश में चलाया सदस्यता महाअभियान
8 August 2019
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी पिछड़ा वर्ग मोर्चा ने सोमवार, 05 अगस्त को पूरे प्रदेश में सदस्यता महाअभियान चलाया। मोर्चा पदाधिकारियों ने उम्मीद जताई है कि इस महाअभियान के दौरान ही मोर्चा ने अपने लक्ष्य को हासिल कर लिया है। भारतीय जनता पार्टी पिछड़ा वर्ग मोर्चा द्वारा सोमवार को पूरे प्रदेश के 56 संगठनात्मक जिलों एवं 851 मंडलों में सदस्यता महाअभियान चलाया गया। इस दौरान प्रदेश के सभी संभाग प्रभारी, जिला प्रभारी, विधानसभा प्रभारी, मंडल प्रभारियों ने अपने- अपने प्रभार वाले संभाग, जिला, विधानसभा एवं मंडलों में सदस्यता महाअभियान की अगुवाई की। मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री भगतसिंह कुशवाह ने सदस्यता महाअभियान के दौरान सोमवार को मंदसौर, रतलाम, धार एवं उज्जैन नगर एवं ग्रामीण जिले के मंडलों में संपर्क कर मोर्चा कार्यकर्ताओं का उत्साहवर्धन किया। गौरतलब है कि पिछड़ा वर्ग मोर्चा द्वारा सदस्यता अभियान के दौरान 11 लाख नए सदस्य जोड़ने का लक्ष्य तय किया गया था ,जिसमें से 31 जुलाई तक 7 लाख सदस्य बनाए जा चुके थे। मोर्चा पदाधिकारियों को आशा है कि महाअभियान के दौरान मोर्चा ने निर्धारित लक्ष्य पार कर लिया है।

भेदभाव की प्रतीक 370 खत्म, 70 साल पुराने दर्द से मिली मुक्तिः विश्वास सारंग
8 August 2019
भोपाल। जम्मू-कश्मीर के लोगों में भेदभाव की प्रतीक 370 और 35 ए को हटाकर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने एक ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल की है। इस उपलब्धि ने हर भारतीय का सिर गर्व से ऊंचा किया है और एक 70 साल पुराने दर्द से मुक्ति दी है। मैं प्रदेश भाजपा की ओर से प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री श्री अमित शाह और केंद्र सरकार का आभार व्यक्त करता हूं कि उन्होंने देश की एकता और अखंडता को चिरस्थायी रखने के उद्देश्य से अनुच्छेद 370 को दृढ़ इच्छाशक्ति का परिचय देते हुए समाप्त किया, जिसके चलते कश्मीर को लेकर हमेशा संशय की स्थिति बनी रहती थी। इस अनुच्छेद के चलते 44 हजार मौतें हुईं और हजारों सैनिकों को अपनी शहादत देनी पड़ी। यह बात पूर्व मंत्री व विधायक श्री विश्वास सारंग ने मंगलवार को मीडिया से चर्चा के दौरान कही। पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेन्द्र पाराशर एवं जिलाध्यक्ष श्री विकास विरानी विशेष रूप से उपस्थित थे।
श्री विश्वास सारंग ने कहा कि अनुच्छेद 370 और 35 ए को समाप्त करके प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने उन नेताओं को सही जवाब दिया है, जो इनके हटने पर तरह-तरह की धमकियां दे रहे थे। श्री सारंग ने देश और प्रदेश की जनता के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि जैसे ही इन अनुच्छेदों को हटाने के लिए केंद्रीय गृहमंत्री श्री अमित शाह ने राज्यसभा में संकल्प पढ़ा, पूरे देश में एक सकारात्मक और दीपावली जैसा माहौल बन गया। इससे स्पष्ट है कि देश की जनता भी यही चाहती थी।
बिना नीति के चल रही कांग्रेस
श्री सारंग ने कहा कि मंगलवार को लोकसभा ने इस संकल्प को भारी बहुमत से पारित कर दिया। वहीं, राज्यसभा में इस मुद्दे पर कांग्रेस के रवैये को लेकर पार्टी के चीफ व्हिप ने इस्तीफा दे दिया। इससे स्पष्ट है कि कांग्रेस की लाइन, लैंग्थ और लीडर में गड़बड़ी है। कांग्रेस बिना किसी नीति के चल रही है। मंगलवार को लोकसभा में भी इस मुद्दे पर कांग्रेस का कोई स्पष्ट रुख दिखाई नहीं दिया।
महिलाओं, विस्थापितों, दलितों को मिला न्याय
श्री सारंग ने कहा कि अनुच्छेद 370 के हटने से उन लाखों विस्थापित कश्मीरी पंडितों को न्याय मिला है, जो अपना घर-द्वार छोड़कर दर-दर भटकने पर मजबूर हुए। उन महिलाओं को न्याय मिला है, जिनका जन्म कश्मीर में हुआ था, लेकिन अन्य राज्य के व्यक्ति से शादी करने के कारण उन्हें उनके अधिकारों से वंचित कर दिया गया। उन दलितों को न्याय मिला है, जो आजादी के 70 साल बाद भी कश्मीर में सिर पर मैला ढोने के लिए मजबूर थे।
जम्मू-कश्मीर में लागू होंगे देश के कानून
श्री सारंग ने कहा कि दोनों अनुच्छेदों के चलते देश के कई कानून जम्मू-कश्मीर में लागू नहीं हो पाते थे। इसके चलते इन कानूनों या योजनाओं का लाभ यहां के निवासियों को नहीं मिल पाता था। शिक्षा का अधिकार, सूचना का अधिकार, मनी लांड्रिंग विरोधी कानून, कालाधन विरोधी कानून, भ्रष्टाचार विरोधी कानून, न्यूनतम वेतन का कानून आदि ऐसे ही कानून थे, जिनका लाभ कश्मीर की जनता को नहीं मिल पाता था। लेकिन अब 1956 के बाद बने देश के सभी कानून जम्मू-कश्मीर में लागू होंगे। अनुसूचित जाति, जनजाति और अल्पसंख्यक वर्ग के लोगों, छात्र-छात्राओं को आरक्षण का लाभ भी मिलेगा, जो उन्हें अब तक नहीं मिल पा रहा था।
डॉ. मुखर्जी को सच्ची श्रद्धांजलि
श्री सारंग ने कहा कि अनुच्छेद 370 और 35 ए के हटने पर हम सब प्रसन्न हैं। उन्होंने कहा कि डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी ऐसे पहले नेता थे, जो देश की एकता और अखंडता के लिए कश्मीर में ही शहीद हुए थे। उन्होंने हमेशा ‘एक देश-दो विधान, दो प्रधान, दो निशान’ का विरोध किया। उनकी शहादत के बाद ‘जहां हुए बलिदान मुखर्जी, वो कश्मीर हमारा है’ के नारे को बल मिला। श्री सारंग ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री श्री अमित शाह ने 370 को हटाकर डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी को सच्ची श्रद्धांजलि दी है और इसके लिए मैं उनका अभिनंदन करता हूं।

कश्मीर से 370 हटने, पुनर्गठन बिल पारित होने पर प्रदेश कार्यालय में मना जश्न
8 August 2019
भोपाल। अनुच्छेद 370 और 35 ए हटने तथा लोकसभा में जम्मू कश्मीर पुनर्गठन बिल पास होने की खुशी में मंगलवार शाम को भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यालय में जमकर जश्न मनाया गया। प्रदेश के विभिन्न जिलों में भी पार्टीजनों से आतिशबाजी कर और एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर अपनी प्रसन्नता व्यक्त की।
जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने तथा लोकसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल भारी बहुमत से पारित होने की खुशी में प्रदेश कार्यालय पं. दीनदयाल परिसर में पार्टी कार्यकर्ताओं ढोल-ढमाकों और आतिशबाजी के साथ जश्न मनाया। इस अवसर पर पार्टी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर बधाई दी और ढोल की थाप पर थिरकते हुए इस ऐतिहासिक निर्णय का स्वागत किया। इस अवसर पर पूर्व मंत्री व विधायक श्री विश्वास सारंग, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेन्द्र पाराशर, जिलाध्यक्ष श्री विकास विरानी, श्री कृष्णमोहन सोनी, श्रीमती सीमा सिंह, श्रीमती बृजुला सचान, श्रीमती हंसकुंवर राजपूत, श्री सुनील पाण्डे, युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष श्री प्रमोद शर्मा, श्री गोपाल तोमर, श्री राजेन्द्र गुप्ता, श्री सुमीत रघुवंशी सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।

अजा मोर्चा का सदस्यता महाअभियान 7 अगस्त को
8 August 2019
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी अनुसूचित जाति मोर्चा द्वारा 7 अगस्त को संपूर्ण मध्यप्रदेश में संगठन पर्व के अंतर्गत सदस्यता महाअभियान चलाया जायेगा एवं 5 लाख से अधिक नए सदस्य बनाकर पार्टी की रीति नीति से अवगत कराया जायेगा।
अजा मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष श्री सूरज कैरो के नेतृत्व में प्रदेश के सभी 56 संगठनात्मक जिलों में यह अभियान चलाया जायेगा। जिसमें सभी जिलों के प्रभारी, जिलाध्यक्ष इस अभियान का नेतृत्व करेंगे। साथ ही अभियान को अत्यधिक प्रभावी बनाने के लिए सभी जिलों में प्रमुख रूप से उपस्थित रहेंगे। मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री सूरज कैरो इंदौर नगर, पूर्व मंत्री श्री लालसिंह आर्य भिण्ड, श्री जगदीश देवड़ा मंदसौर, श्री ओमप्रकाश खटीक शिवपुरी, श्री अशोक अर्गल श्योपुर एवं श्री नारायण प्रसाद कबीरपंथी दमोह में आयोजित कार्यक्रम में भाग लेंगे।

पार्टी ने एक प्रखर नेता युवाओं ने स्नेही मार्गदर्शक खो दिया: राकेश सिंह
8 August 2019
भोपाल। सुषमा दीदी पार्टी के उत्थान और विकास के हर दौर की साक्षी रहीं। एक प्रखर नेता के रूप में उन्होंने हर दौर में अपनी सशक्त उपस्थिति दर्ज कराई। युवा सांसदों, नेताओं और कार्यकर्ताओं के लिए तो सुषमा दीदी का इस तरह जाना गंभीर क्षति है, जिनका स्नेहिल मार्गदर्शन सभी को सहजता से उपलब्ध रहता था। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह पार्टी की वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज के निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कही।
श्री राकेश सिंह ने कहा कि सुषमा दीदी की वक्तृत्व कला ने उनके राजनीतिक कॅरियर की शुरुआत से ही सभी को आकर्षित करना शुरू कर दिया था। कठिन से कठिन विषय को पूरी सरलता के साथ स्पष्ट करना उनकी विशेषता रही। पार्टी के प्रति उनका समर्पण अद्वितीय था। वे बिना ना नुकूर के बेल्लारी से कांग्रेस प्रत्याशी श्रीमती सोनिया गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ीं और महज 15 दिनों में कन्नड़ भाषा सीखकर उन्होंने सभी को चैंका दिया था। श्री सिंह ने कहा भारत के विदेश मंत्री के रूप में उनके कार्यकाल में सारी दुनिया में एक अमिट छाप छोड़ी है। उन्होंने न सिर्फ विदेश मंत्रालय के चेहरे को मानवीय और मददगार स्वरूप प्रदान किया, बल्कि वे समूची शासन प्रणाली के मानवीयकरण की अग्रदूत के रूप में याद की जाएंगी।
उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश की धरती स्व. सुषमा दीदी का विशेष संबंध रहा है और उनका जाना प्रदेश के हर कार्यकर्ता, हर व्यक्ति के लिए दुखद है। मैं उनकी आत्मिक शांति की कामना करता हूं और ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि वे उनके परिजनों को इस असीम दुख को सहन करने की शक्ति प्रदान करें।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी से प्राप्त प्रेस विज्ञप्ति प्रकाशनार्थ
3 August 2019
मध्यप्रदेश इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के शताब्दी वर्ष 1985 में स्थापित किया गया था। यह पुरस्कार राष्ट्रीय एकीकरण, आपसी समझदारी तथा विभिन्न धार्मिक समूहों, समुदायों, संस्कृति एवं परम्पराओं की राष्ट्रीय एकता की भावना को सुदृढ़ तथा प्रौन्नत करने के दृष्टिकोण से स्थापित किया गया है। यह पुरस्कार उनके बलिदान दिवस 31 अक्टूबर को दिया जाता है। यह पुरस्कार राष्ट्रीय एकीकरण में अप्रत्याशित योगदान देने के लिए किसी व्यक्ति या संस्था को दिया जाता है, जिसमें प्रशस्ति पत्र के अलावा दस लाख रूपये की नगद राशि भी प्रदान की जाती है। सन् 2017-18 के लिए दिया जाने वाला 31 वां इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार विगत वर्ष व अन्य दो पूर्ववर्ती वर्षों में राष्ट्रीय एकता की दिशा में किए गए उल्लेखनीय कार्यों के लिए दिया जायेगा। इसके लिए पुरस्कार की सलाहकार समिति की अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी ने 31 अगस्त 2019 तक एक निर्धारित प्रपत्र पर प्रस्ताव आमंत्रित किए हैं। नामांकन हेतु प्रारूप अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी, 24 अकबर रोड, नई दिल्ली-110011 से प्राप्त किये जा सकते हैं।
अब तक जिन महानुभावांे को इस पुरस्कार से अलंकृत किया गया है, वे हैं:- स्वामी रंगनाथनदा, श्रीमती अरूणा आसफ अली, भारत स्काउट एंड गाइड्स, श्री पी.एन. हक्सर, श्रीमती एम.एस. सुब्बालक्ष्मी, श्री राजीव गांधी (मरणोपरांत), परम धाम आश्रम (वर्धा, महाराष्ट्र), आचार्य श्री तुलसी जी, डाॅ. विशम्भर नाथ पाण्डेय सरदार बेअंत सिंह (मरणोपरांत), तथा नटवर ठक्कर (संयुक्त रूप से), गांधी इंस्टिट्यूट आॅफ पब्लिक एफेयर्स (कर्नाटक), इंदिरा गांधी राष्ट्रीय केंद्र (शांति निकेतन), डाॅ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम, श्री शंकर दयाल शर्मा (मरणोपरांत), प्रो. सतीश धवन, श्री एच. वाई. शारदा प्रसाद, राम-रहीम नगर स्लम ट्वैलर्स एसोसिएशन (अहमदाबाद), अमन पथिक-पीस वालन्टियर, गु्रप (अहमदाबाद), श्री रामसिंह सोलंकी एवं श्री सुनील तमैचे (संयुक्त रूप से) आचार्य महाप्रज्ञ, श्री श्याम बेनेगल, श्रीमती महाश्वेता देवी, श्री जावेद अख्तर, डाॅ. जे.एस. बन्दूकवाला तथा डाॅ. राम पुनियानी (संयुक्त रूप से), कस्तूरबा गांधी राष्ट्रीय स्मारक ट्रस्ट (इंदौर, मध्यप्रदेश), श्री बलराज पुरी, श्री ए.आर. रहमान एवं रामाकृष्ण मिशन आश्रम, नारायणपुर, छत्तीसगढ़ (संयुक्त रूप से), श्री मोहन धारिया, श्री गुलजार, डाॅ. एम.एस. स्वामीनाथन, श्री राजगोपाल पी.वी. तथा श्री टी.एम. कृष्णा।

मंत्रियों के रिपोर्ट कार्ड और नंबर दिए जानी वाली खबरें निराधार: अभय दुबे
3 August 2019
मध्यप्रदेश प्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष श्री अभय दुबे ने जारी एक बयान में कहा है कि हमें ये बताते हुए गर्व होता है कि मध्यप्रदेश का समूचा मंत्रिमंडल मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी के नेतृत्व में प्रदेश की प्रगति के लिए प्रतिबद्ध है और निरंतर प्रदेश के विकासोन्मुखी कार्यों को आकार दे रहा है।
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी नियमित रूप से विभागवार कार्यों की समीक्षा करते हैं और प्रदेश की प्रगति के प्रति संकल्पित हैं।
भारतीय जनता पार्टी द्वारा ये भ्रामक प्रचार किया जा रहा है कि मंत्रियों के परफाॅर्मेंस को लेकर सरकार ने मंत्रियों का कोई क्रम या नंबर निर्धारित किया है। यह बात पूरी तरह निराधार है। सरकार के सभी मंत्री पूरी दक्षता के साथ अपने दायित्वों का निर्वहन कर रहे हैं।

कांग्रेस सरकार का संकल्प....‘मिलावट मुक्त-मध्यप्रदेश’
29 July 2019
मध्यप्रदेश प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी के नेतृत्व मंे मध्यप्रदेश समूचे देश में अग्रणी भूमिका लिये हुए है, चाहे वह प्रदेश के नागरिकों के स्वास्थ्य का कानूनी अधिकार देने का विषय हो या पानी के कानूनी अधिकार का। कांग्रेस सरकार प्रदेश के नागरिकों के जीवन से जुडे़ एक संवेदनशील विषय पर दृढ़ता से कदम बढ़ाते हुए एक ओर संकल्प ले रहा है, वह है ‘मिलावट मुक्त-मध्यप्रदेश’ का।
यह कहते हुए हमें बेहद अफसोस हो रहा है कि पूर्ववर्ती भाजपा सरकार ने क्रूर लापरवाही करते हुए मिलावट खोरों के आगे घुटने टेक दिये थे तथा मध्यप्रदेश के नागरिकों की जिंदगी को दाॅव पर लगा दिया था।
तत्कालीन कांग्रेसनीत यूपीए सरकार जब खाद्य संरक्षा एवं मानक अधिनियम मिलावटखोरी के खिलाफ लेकर आयी थी तो मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार ने 2012 में इसका जमकर विरोध किया था और मिलावटखोरों के समर्थन में खड़ी हो गयी थी। आज यही कानूनी अधिकार प्रदेश के नागरिकों की खाद्य संरक्षा के लिए मील का पत्थर साबित हो रहा है।
आज समूचे प्रदेश के लगभग हर जिले में दूध और उसके उत्पाद में मिलावट करने वालों के खिलाफ एक व्यापक अभियान चलाया जा रहा है। इस बात की कल्पना मात्र से रोंगटे खड़े हो जाते हैं कि बीते कई वर्षों से मध्यप्रदेश में मिलावटखोरी का कारोबार प्रदेश की विगत भाजपा सरकार की सरपरस्ती मंे फलने-फूलने दिया गया था। हाल ही में विभिन्न जिलों में की गई छापेमारी मंे दूध और उसके उत्पादों में क्लोरोफार्म, सोडियमथायो सल्फेट, कास्टिक सोड़ा, माल्टोडेक्स्ट्रिन पाॅवडर, पाॅमोलिन तेल, हाईड्रोजन पेराक्साईड तथा शैम्पू जैसे घातक कैमिकल्स जप्त किये गये हैं, जो प्रत्यक्ष रूप से मानव जीवन के लिए घातक हैं।
मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी के स्पष्ट निर्देशों के बाद बीते दिनों श्री एस.आर. मोहंती जी, मुख्य सचिव, मप्र शासन की अध्यक्षता में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जिले के सभी जिलाधीशों को यह स्पष्ट निर्देश दिये गये हैं कि मिलावटखोरों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की जाये तथा यह अभियान निरंतर जारी रखा जाये। जल्द ही सरकार फल को कैमिकल से पकाये जाने वालों के खिलाफ भी कड़ा और बड़ा कदम उठाने जा रही है।
देश की सर्वोच्च अदालत ने 5 अगस्त, 2016 को अपने आदेश में राज्य सरकारों को यह स्पष्ट निर्देश दिया था कि सभी राज्य सरकारें हाईरिस्क एरिया को चिन्हित करेगी अर्थात जहां मिलावटखोरी ज्यादा हो रही है, उन क्षेत्रों को चिन्हित कर वहां के सेंपल की अधिक से अधिक जांच की जाये। साथ ही यह भी निर्देशित किया था कि टेस्टिंग लेब की सुविधाएंे सुनिश्चित की जायें। मगर पूर्ववर्ती भाजपा सरकार ने इस दिशा में कोई काम नहीं किया।
मध्यप्रदेश में मात्र एक शासकीय खाद्य परीक्षण प्रयोगशाला, ईदगाह हिल्स भोपाल में स्थित है, जिसकी क्षमता 6000 परीक्षण प्रतिवर्ष है। यह चैंकाने वाला तथ्य सामने आया है कि अप्रैल 2016 से दिसम्बर 2018 तक क्षमता नहीं होने की वजह से तत्कालीन भाजपा सरकार ने 13 हजार खाद्य नमूनों का परीक्षण ही नहीं कराया। प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने अपनी प्रतिबद्धता जाहिर की है और जल्द ही जबलपुर, ग्वालियर और इंदौर में खाद्य परीक्षण प्रयोगशाला की ओर कदम बढ़ाया जा रहा है।
इतना ही नहीं सर्वोच्च अदालत ने जब अपेक्षा की, कि राज्य सरकारें आईपीसी के सेक्शन 272 को संशोधित कर मिलावटखोरी के खिलाफ उम्र कैद की सजा का प्रावधान करे तब तत्कालीन भाजपा सरकार ने एक शपथ पत्र के माध्यम से सर्वोच्च अदालत को सूचित किया था कि वे मिलावटखोरों के खिलाफ आजन्म कारावास तक के दंड को प्रावधानित कर रहे हैं। मगर, सर्वोच्च अदालत में दिये गये शपथ पत्र को भी गंभीरता से न लेते हुए इस प्रकार का कोई प्रावधान नहीं किया।
विगत दिनों एनीमल वेलफेयर बोर्ड आॅफ इंडिया के सदस्य श्री मोहन सिंह आलूवालिया ने मिनिस्ट्री आॅफ र्साइंस एंड टेक्नालाॅजी की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए बताया था कि देश में 68.7 प्रतिशत दूध और दूध से बनने वाले उत्पादों में मिलावट होती है। साथ ही उन्होंने यह भी बताया था कि दूध की उत्पादित उपलब्धता 2017-2018 में 375 ग्राम प्रतिव्यक्ति प्रतिदिन है और खपत 480 ग्राम प्रतिव्यक्ति प्रतिदिन है। अर्थात उत्पाद से कहीं ज्यादा अधिक खपत हो रही है।
इतना ही नहीं वल्र्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन (WHO) ने भारत सरकार को एक एडवाइजरी जारी की है कि अगर दूध और दूध से बने उत्पादों में मिलावटखोरी को तुरंत नहीं रोका गया तो भारत को इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे और वर्ष 2025 तक भारत के 87 प्रतिशत लोग केंसर जैसी गंभीर बीमारी की ज़द में आ जायेंगे।
मध्यप्रदेश देश का वह पहला राज्य बनने जा रहा है, जिसने मिलावट मुक्त मध्यप्रदेश का संकल्प लिया है। हम, सर्वोच्च अदालत के दिशा-निर्देशों के पालन के लिये प्रतिबद्ध हैं और मिलावटखोरों के खिलाफ आजन्म कारावास का प्रावधान करेंगे। प्रदेश के नागरिकों से आग्रह है कि खाद्य संरक्षा एवं मानक अधिनियम में सभी नागरिकों को धारा-40 के तहत यह अधिकार दिया गया है कि वह भी स्वयं खाद्य पदार्थाें का विश्लेषण करा सकता है। अतः समूचा मध्यप्रदेश, प्रदेश को मिलावटखोरी के दंश से मुक्त कराने के लिए सरकार के इस कदम में सहभागी बने।

कैलाश विजयवर्गीय का बयान भाजपा की हताशा का प्रतीक ऐसी बयानबाजियां घोटालों में "कमीशन" खाने वालों के द्वारा, पार्टी में अपनी "पोजीशन" बचाने का "मिशन"
29 July 2019
मध्यप्रदेश मध्यप्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा ने आज जारी अपने बयान में कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय द्वारा यह कहा जाना कि "कर्नाटक में शपथ के बाद, मध्यप्रदेश में "मिशन" शुरू होगा", पूरी तरह से हास्यास्पद है। दरअसल अभी-अभी सदन में बुरी तरह से पराजित भाजपा के हताश नेताओं द्वारा की जा रही ऐसी बयानबाजियों को व्यापमं, डंपर, ई-टेंडरिंग, पेंशन घोटालों में "कमीशन" खाने वालों के द्वारा पार्टी में अपनी" पोजीशन" बचाने का "मिशन" ही कहा जा सकता है। हकीकत तो यह है कि भाजपा नेता स्वयं भी यह जानते हैं कि कमलनाथ सरकार पूरी मजबूती के साथ अपना कार्यकाल पूरा करेगी, और भाजपा की मुख्य चिंता अपने विधायकों को बचाए रखने की है।
आज जारी अपने बयान में उपरोक्त विचार व्यक्त करते हुए श्रीमती ओझा ने कहा कि नंबर एक, नंबर दो और बॉस के इशारों पर, 24 घंटों में सरकार गिराने का दावा करने वालों की पोल सदन में दो बार खुल चुकी है और अभी हाल ही में "दंड विधि संशोधन विधेयक" पर हुए मत-विभाजन में पहले ही भाजपा अपने दो विधायक खो चुकी है, उसके बाद भी इस तरह की बयानबाजियां केवल अपने आप को और अपने कार्यकर्ताओं को झूठी दिलासा दिलाने और अपना मनोबल बनाए रखने की नाकाम कोशिश ही कहा जा सकता है।
श्रीमती ओझा ने कहा की शिवराज सिंह और कैलाश विजयवर्गीय के बीच गुटबाजी के कारण कैलाश विजयवर्गीय को पहले ही पार्टी ने प्रदेश निकाला दे दिया है और उन्हें पार्टी द्वारा मुख्यमंत्री न बनाए जाने की टीस, उनके मन में अभी तक है, लेकिन उन्हें इस सच्चाई को स्वीकार कर लेना चाहिए कि अब भाजपा की नहीं, कमलनाथ जी की लोकप्रिय कांग्रेस सरकार है, जिसने अपनी मजबूती का उदाहरण कैलाश जी और उनकी पार्टी को, अभी कुछ दिन पहले ही सदन में हुए मत-विभाजन के दौरान दे दिया है।
श्रीमती ओझा ने कहा कि भाजपा की आपसी गुटबाजी के चलते मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान, गोपाल भार्गव, नरोत्तम मिश्रा, प्रभात झा, कैलाश विजयवर्गीय के बीच चल रहा जो सत्ता संघर्ष है, ऐसे बयानों को केवल उसी दृष्टि से देखा जा सकता है, इससे अधिक इन बयानों का कोई महत्व नहीं है, भाजपा नेताओं के साथ ही प्रदेश की जनता भी अब इस अमिट सच्चाई को पूरी तरह से समझ चुकी है।

सरकार गिराने के भाजपाई मंसूबे नाकाम, मत-विभाजन में कांग्रेस को मिले 122 मत
25 July 2019
मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा ने आज जारी अपने बयान में कहा कि प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव का यह कहना कि ‘‘यदि नंबर एक और नंबर दो बोलें तो, हम सरकार गिरा देंगे’’, एक तरह से ‘‘राजनैतिक माफिया’’ द्वारा की गई स्वीकारोक्ति है कि इन माफियाओं के ‘‘सरगना’’ भ्रष्टाचार के द्वारा कमाए गए अकूत धन और साम-दाम-दंड-भेद के द्वारा, लोकतांत्रिक ढंग से चुनी गई, गैर भाजपाई प्रदेश सरकारों को गिराने की निंदनीय कोशिशों में लिप्त हैं, किंतु मध्यप्रदेश में इन फासिस्टवादी ताकतों के मंसूबे कभी कामयाब नहीं होंगे, यह बात आज विधानसभा में ‘‘दंड विधि संशोधन विधेयक’’ पारित कराने के दौरान हुए मत-विभाजन से साफ हो गई है, भाजपा को पता चल गया है कि मध्यप्रदेश में कमलनाथ जी के नेतृत्व में कांग्रेस का किला पूरी तरह से अभेद्य है।
आज जारी अपने बयान में उपरोक्त विचार व्यक्त करते हुए श्रीमती ओझा ने कहा कि लोकप्रिय मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी ने, नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव की इस बात को चुनौती के रूप में लेते हुए, आज ही विधानसभा में भाजपा को मत-विभाजन कराने की चुनौती दे डाली और संयोग से ‘‘दंड विधि संशोधन विधेयक’’ को पारित कराने के दौरान हुए मत विभाजन में कांग्रेस के पक्ष में गिरे 122 मतों से साफ सिद्ध हो गया है कि प्रदेश में कांग्रेस का गढ़ पूरी तरह से मजबूत है और भाजपा का किला ही ढहने की कगार पर आ गया है।
श्रीमती ओझा ने अपने बयान के अंत में कहा कि भाजपा को अब यह साफ समझ लेना चाहिए कि कांग्रेस सरकार को गिराने के उसके मंसूबे, केवल ख्याली पुलाव मात्र हैं, और ये कभी हकीकत में नहीं बदल सकते। बेहतर होगा कि भाजपा स्वप्नलोक से निकलकर हकीकत के धरातल पर आए, और अपनी करारी हार के सदमे से उबर कर, प्रदेश के विकास में कांग्रेस के साथ सहभागी बनते हुए, सकारात्मक विपक्ष की भूमिका का निर्वाह करे।

कुमारस्वामी सरकार का गिरना लोकतंत्र की जीतः राकेश सिंह
25 July 2019
भोपाल। ऐसी सरकारों का यही हश्र होता है, जो सिर्फ परिस्थितियों और स्वार्थ के आधार पर बनी होती है। कर्नाटक में तमाम हथकंडे अपनाए जाने के बावजूद आखिरकार मुख्यमंत्री कुमारस्वामी की गठबंधन सरकार को जाना पड़ा, यह लोकतंत्र की जीत है। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह ने कर्नाटक विधानसभा में हुए फ्लोर टेस्ट में मुख्यमंत्री कुमारस्वामी की सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव के पारित होने पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कही।
श्री राकेश सिंह ने कहा कि कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस का गठबंधन सिर्फ आपसी स्वार्थ के लिए बनाया गया गठबंधन था। कर्नाटक की जनता ने दोनों पार्टियों को सरकार बनाने के लिए जनादेश नहीं दिया था, उन्होंने सिर्फ भाजपा को सत्ता में आने से रोकने के लिए ही यह गठबंधन किया गया था। कर्नाटक की जनता इस सरकार में लगातार चल रही खींचतान, बेमन से रोते-रोते सरकार चलाने वाले मुख्यमंत्री और आए दिन पैदा होने वाले गतिरोधों से ऊब गई थी। वहां न सरकार ठीक से काम कर पा रही थी, न ही वो विकास कार्य हो पा रहे थे, जिनके लिए जनता ने इन दोनों दलों को वोट दिए थे। उन्होंने कहा कि अब इस सरकार के जाने से कर्नाटक में सक्षम और लोकप्रिय सरकार के गठन का रास्ता साफ हो गया है। श्री राकेश सिंह ने कर्नाटक की जनता को एक ऐसी सरकार के गठन के लिए शुभकामनाएं दी हैं, जो अपने पैरों पर खड़ी हो और बिना किसी गतिरोध के पूरी मजबूती से जनहित के कामों को करने की इच्छशक्ति रखती हो।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष 25 को भोपाल में
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह 25 जुलाई को भोपाल में रहेंगे। वे दिल्ली से वायुयान द्वारा भोपाल पहुंच रहे है और दोपहर 11 बजे से प्रदेश कार्यालय में कार्यकर्ताओं और अन्य लोगों से भेंट करेंगे। सदस्यता अभियान की प्रगति की समीक्षा करेंगे। श्री राकेश सिंह सायंकाल वायुयान से दिल्ली रवाना हो जायेंगे।

भारतीय जनता पार्टी मध्य प्रदेश कार्य समिति सदस्यो की सुची
सरकार गिराने की धमकियां देने के बजाय, सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभाये भाजपा : शोभा ओझा
24 July 2019
जैसा कि आप सब जानते हैं कि भारतीय जनता पार्टी विधानसभा में जनहित के मुद्दों पर सरकार को सहयोग देने या सकारात्मक आलोचना की बजाय प्रदेश में लगातार यह भ्रम पैदा करने की कोशिश कर रही है कि कांग्रेस की सरकार स्थिर नहीं है, जबकि वास्तविकता यह है कि भारतीय जनता पार्टी अपनी कमजोरी को पहचानती है और इसीलिए जब भी सदन में बहुमत सिद्ध करने के लिए मत-विभाजन का मौका आता है, वह सदन से बहिर्गमन कर देती है। भाजपा के नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव, प्रदेशाध्यक्ष श्री राकेश सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान, पूर्वमंत्री श्री नरोत्तम मिश्रा और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव श्री कैलाश विजयवर्गीय सहित भाजपा में अपनी श्रेष्ठता सिद्ध करने के जितने भी प्रतियोगी हैं, उनकी खींचतान के कारण सदन में या सदन से बाहर सरकार गिराने की बातें की जाती हैं, लेकिन भाजपा को यह साफ समझ लेना चाहिए की प्रदेश की जनता या कांग्रेस के विधायकगण उनकी इन बातों में आने वाले नहीं हैं और यह बात अब किसी से छिपी नहीं है कि कांग्रेस पार्टी की सरकार पूरी मजबूती से अपना काम कर रही है और अगले 5 वर्षों तक उसे किसी प्रकार का कोई खतरा नहीं है और इन 5 वर्षों में यह कांग्रेस सरकार मध्य प्रदेश का स्वर्णिम अध्याय लिखने के लिए भी पूरी तरह से वचनबद्ध है, प्रतिबद्ध है।
यहां यह भी उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश विधानसभा अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के निर्वाचन में दो मर्तबा कांग्रेस के संख्याबल से पराजित हो चुकी भाजपा, संसदीय पद्धति, प्रक्रिया एवं मध्यप्रदेश विधानसभा की मान्य परंपराओं का खुलेआम उल्लंघन कर, प्रदेश के विकास में बाधक बनने का एक भी मौका नहीं छोड़ रही है। यह हास्यास्पद ही है कि भाजपा एक बार 4 जनवरी 2019 को मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष के निर्वाचन और दूसरी बार 10 जनवरी 2019 को मध्यप्रदेश विधानसभा के उपाध्यक्ष के निर्वाचन में पराजित हो चुकी है। ज्ञात हो कि विधानसभा अध्यक्ष के निर्वाचन के दौरान जब डिवीजन हुआ तो भाजपा सदस्यों ने सदन से बहिर्गमन किया। जबकि वे सदन में ही थे, लेकिन मतदान में भाग नही लिया, मतलब सीधा है कि बयानबाजी करो और संसदीय पद्धति, प्रक्रिया तथा मान्य परंपराओं का पालन नहीं करो। यहां यह ज्ञात हो कि विधानसभा अध्यक्ष के निर्वाचन में कांग्रेस के प्रत्याशी के पक्ष में 120 मत पड़े थे, जबकि विपक्ष में कोई मत नहीं पड़ा था। यह हास्यास्पद है कि मुंह की खाने के बाद भी भाजपा नेताओं की अनर्गल बयानबाजी और बड़बोलापन अभी भी लगातार जारी है।
आश्चर्यजनक है कि भाजपा और उसके नेता एक ऐसी जनहितैषी सरकार के विकास से जुड़े फैसलों में अडंगा लगाने का प्रयास कर रहे हैं, जिसने जनता के हित को ध्यान में रखते हुए इतिहास में पहली बार रविवार को भी सदन चलाने का निर्णय लिया।
यही नहीं भाजपा की यह आदत है कि वह हर मुद्दे पर झूठ फैलाकर कांग्रेस के विरूद्व दुष्प्रचार का कोई मौका नहीं छोड़ती। इसलिए कल कांग्रेस की वयोवृद्ध नेता और 15 वर्षों तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं श्रीमती शीला दीक्षित के निधन के बाद सदन मंे शोक व्यक्त करने की बात पर भी उन्होंने झूठ बोल कर राजनैतिक रोटियां सेंकने की कोशिश की, जबकि स्वयं प्रदेश के लोकप्रिय मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी ने यह स्पष्ट किया कि वे स्वयं श्रीमती शीला दीक्षित के निधन पर कल (21 जुलाई, 2019) ही शोक व्यक्त करना चाहते थे, लेकिन सदन की राय, जिसमें नेता प्रतिपक्ष की सहमति भी शामिल थी, उस पर अध्यक्ष ने यह व्यवस्था दी कि हम आज यानि 22 जुलाई, 2019 को श्रीमती शीला दीक्षित के निधन पर शोक व्यक्त करेंगे।
आवश्र्यजनक है कि ऐसे भावनात्मक और संवेदनशील मुद्दे पर सभी तथ्य पूरी तरह से स्पष्ट होने के बावजूद भी भाजपा नेताओं द्वारा सदन और प्रदेश की जनता को बरगलाने से साफ है कि वे अन्यान्य मुद्दों पर सदन का ध्यान बंटाना चाहते हैं, जनहित के मुद्दों पर चर्चा से उनका कोई सरोकार नहीं है। विधानसभा में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के चुनाव में भी संख्या बल के अभाव में पराजित भाजपा बजट सत्र के दौरान कभी भी मत-विभाजन की मांग कर सकती थी, यह उसका संवैधानिक अधिकार था, किंतु उसने ऐसा नहीं किया, क्योंकि भाजपा को पता था कि वह संख्या बल में कांग्रेस से बहुत पीछे है। लिहाजा, वे झूट का सहारा लेकर अपनी कमजोरी को छिपाने के लिए विधानसभा में उठाये जाने वाले सभी मुद्दों पर जनता को भ्रम की स्थिति में रखने का असफल प्रयास निरंतर कर रहे हैं।
श्रीमती ओझा ने बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान और भाजपा नेता सदन के बाहर बयानबाजी करते हैं लेकिन जब लोकहित से जुडे़ हुए मुददों पर सदन में चर्चा होती है, या राज्य का बजट पेश होने के बाद विधायकों को सभी विषयों को सदन में रखने का अवसर मिलता है, तब भी सदन की कार्यवाही से भाजपा सदस्य बहिर्गमन कर देते हैं। जबकि समान्यतः बजट सत्र में स्थगन प्रस्ताव नहीं लाया जाता है लेकिन स्थगन प्रस्ताव लाने के लिए शिवराज सिंह चैहान और उनके सदस्यों ने मान्य संसदीय परंपराओं का घोर उल्लंधन किया है।
विपक्ष की भूमिका में बैठी भाजपा का गैर जिम्मेदारना और असंसदीय व्यवहार जनता के सामने है, विपक्ष को जनहित से कोई मतलब नहीं, उन्हें पिछले 15 सालों में अनुशासनहीनता की आदत पड़ चुकी है। उन्होंने बताया कि शिवराज सिंह चैहान और विपक्ष के सदस्यों द्वारा 17 जुलाई 2019 को प्रश्नकाल में जो व्यवधान किया गया और जिसके कारण महत्वपूर्ण प्रश्नकाल बाधित हुआ, उससे कई जनकल्याणकारी विषय विधायकों द्वारा नही उठाये जा सके। इससे प्रदेश की प्रगति, हितों और विकास के संदर्भ में भाजपा और उसके नेताओं की वास्तविक सोच उजागर हो गई है। भाजपा को चाहिए कि वह अपनी पराजय के सदमे से उबरे और इस तथ्य को स्वीकार करे कि अब वह सत्ता से बाहर हो चुकी है और अगले पांच वर्षों तक कमलनाथ जी के नेतृत्व में कांग्रेस की जनहितैषी सरकार मध्यप्रदेश में पूरी मजबूती से कार्य करते हुए प्रदेश की प्रगति और विकास का स्वर्णिम अध्याय लिखेगी।

सांसद प्रज्ञा ठाकुर से कांग्रेस ने पूछा कि वे बताये कि वो नाली व शौचालय की सफाई के लिए सांसद नहीं बनी है तो फिर क्या करने के लिए सांसद बनी है ? क्या विवादास्पद बयान देने के लिए सांसद बनी है ?साध्वी का उक्त बयान मोदी जी के स्वच्छता अभियान का मजाक उड़ाना: नरेन्द्र सलूजा
24 July 2019
भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कांग्रेस की ओर से भोपाल की भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर से पूछा कि आपने कहा है कि आप नाली व शौचालय की सफाई कराने के लिए सांसद नहीं बनी है तो आप खुद ही बताएं कि आप किस लिए सांसद बनी है? क्या आप मुंबई बम ब्लास्ट में शहीद हेमंत करकरे जैसे शहीदों का अपमान करने के लिए सांसद बनी है? शहीदों की शहादत का मजाक उड़ाने के लिए सांसद बनी है? क्या आप राष्ट्रपिता के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने के लिए सांसद बनी है? राष्ट्रपिता की हत्या का मजाक उड़ाने के लिये सांसद बनी है क्या? अपने बयानो से समाज को बाटने के लिये सांसद बनी है क्या? मालेगांव बम ब्लास्ट, सुनील जोशी हत्याकांड जेसे विवादास्पद मामलों से बचने के लिये सांसद बनी है क्या?
सलूजा ने कहा कि सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने ऐसा कहकर खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मजाक उड़ाया है। एक तो उनके स्वच्छता मिशन को आईना दिखाया है, वहीं दूसरी ओर उनकी हाल ही की भाजपा के जनप्रतिनिधियो को दी गयी नसीहत को भी आईना दिखाया है। अब देखना होगा कि भाजपा उन पर क्या कार्रवाई करती है? पूर्व में राष्ट्रपिता के अपमान पर तो दिखावटी खानापूर्ति वाला नोटिस देकर मामले को खत्म कर दिया गया था लेकिन अब तो खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आईना दिखाया है। अब देखना होगा कि भाजपा उन पर क्या कार्रवाई करती है? कर भी पाती है या नहीं?

केन्द्र की मोदी सरकार ने आम बजट में, मध्यप्रदेश के हिस्से से काटे 2677 करोड़ केन्द्र के इस भेदभाव के विरुद्ध, कांग्रेस 20 जुलाई को सभी जिला मुख्यालयों पर करेगी धरना-प्रदर्शन
17 July 2019
भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा ने आज जारी अपने बयान में कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने संसद में वर्ष 2019-2020 का, जो आम बजट प्रस्तुत किया है, उसमें मध्यप्रदेश राज्य के साथ भेदभाव करते हुए, प्रदेश के हिस्से में से 2677 करोड़ रुपए कम आवंटित किए हैं और आश्चर्य इस बात का है कि मध्यप्रदेश से चुने गए भारतीय जनता पार्टी के 28 सांसदों में से एक ने भी, प्रदेश के साथ हुए इस भेदभाव के विरुद्ध अपनी आवाज नहीं उठाई। ऐसे में कांग्रेस पार्टी ने प्रदेश के साथ हुए इस भेदभाव को गंभीरता से लेते हुए, इस तुगलकी निर्णय के विरोध में पूरे प्रदेश के जिला मुख्यालयों पर 20 जुलाई को धरना-प्रदर्शन करने का निर्णय लिया है।
आज जारी अपने बयान में उक्त जानकारी देते हुए श्रीमती ओझा ने आगे बताया कि इस धरना प्रदर्शन को सफल एवं प्रभावी बनाने के लिए जिला/ब्लॉक के पदाधिकारी, प्रदेश पदाधिकारी, पूर्व सांसद, विधायक, स्थानीय संस्थाओं के जनप्रतिनिधि, मोर्चा संगठन, विभागों के जिला/प्रदेश पदाधिकारियों सहित कांग्रेस के नेता व कार्यकर्तागण उपस्थित रहेंगे।

शिवराज जी ,आपने अपने कार्यकाल में आस्था के मसलों पर सिर्फ राजनीति की - नरेन्द्र सलूजा
17 July 2019
भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने बताया कि प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने सदैव आस्था के मसलों पर सिर्फ झूठी घोषणाएं कर , राजनीति की है। कभी उन घोषणाएँ को पूरा नहीं किया।चाहे राम वन गमन पथ के निर्माण की बात हो या श्रीलंका में माता सीता जी के मंदिर के निर्माण की बात हो।
सलूजा ने कहा कि वर्ष 2007 में राम वन गमन पथ के निर्माण की घोषणा करने वाले शिवराज सिंह, अपने कार्यकाल के 11 वर्ष में भी राम वन गमन पथ का निर्माण नहीं कर पाए और ना इस पथ के निर्माण के लिए बजट में उन्होंने राशि का प्रावधान किया।प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद जरूर बजट में इस पथ के निर्माण के लिए राशि का प्रावधान किया गया है और राज्य की कांग्रेस सरकार अपने वचन पत्र के वादे के मुताबिक इस पथ का निर्माण जरूर करेगी।
वही वर्ष 2010 में श्रीलंका के नुवारा में अशोक वाटिका में माता सीता जी के भव्य मंदिर निर्माण का भूमि पूजन करने वाले शिवराज सिंह ,अपने कार्यकाल के 8 वर्षों में भी इस मंदिर का निर्माण कार्य शुरू नहीं करवा पाये।केंद्र में 5 वर्ष उनकी पार्टी की मोदी सरकार होने के बावजूद वह इस मंदिर के निर्माण को लेकर आवश्यक अनुमतियाँ तक हासिल नहीं कर पाये।सिर्फ समय-समय पर इस मंदिर के निर्माण को लेकर वह झूठी घोषणाएं करते रहे।
बड़ा ही आश्चर्य हो रहा है कि आज सरकार जाने के बाद वह 7 माह की कांग्रेस सरकार से श्रीलंका में माता सीता जी के मंदिर निर्माण की मांग कर रहे हैं।
शिवराज सरकार ने इन दोनों आस्था के मसलों पर सिर्फ राजनीति की।वर्षो -वर्ष तक इन घोषणाओं पर अमल करने की दिशा में उन्होंने कोई कार्य नहीं किया।
सलूजा ने कहा कि आज शिवराज सिंह जी प्रदेश की जनता को भ्रमित कर रहे हैं कि कांग्रेस सरकार माता सीता जी के श्रीलंका से जुड़ाव के तथ्यों की जांच करा रही है।जबकि यह कदापि सच नहीं है।उनका यह आरोप सरासर झूठा है।
हां यह जरूर सच है कि हम इस बात की जांच जरूर कराएँगे कि घोषणा करने के बाद शिवराज सरकार ने 8 वर्ष में इस मंदिर निर्माण के लिये क्या- क्या कदम उठाये।


मध्य प्रदेश में कानून व्यवस्था ठप- दुर्गेश केसवानी गृहमंत्री से इस्तीफा ले कमलनाथ
17 July 2019
भोपाल। मध्य प्रदेश में ध्वस्त होती कानून व्यवस्था को लेकर आज सद्भावना अधिकार मंच के कार्यकर्ताओं ने संयोजक दुर्गेश केसवानी एवं संरक्षक महेश शर्मा के नेतृत्व में सरकार और गृह मंत्री का बाला बच्चन के विरुद्ध प्रदर्शन कर स्पीड पोस्ट के माध्यम से चूड़ियां भेंट की, साथ ही मंच के कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र लिखकर गृह मंत्री को तत्काल मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की मांग भी की l इस अवसर पर दुर्गेश केसवानी ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था ठप हो चुकी है और प्रदेश में 6 महीनों में 16000 बच्चों की असमय ही मौत गृह मंत्री और कमलनाथ सरकार की विफलता दर्शाता है इस अवसर पर केसवानी ने कमलनाथ सरकार के गृहमंत्री बाला बच्चन को तत्काल प्रभाव से हटाने की मांग की
मंच के संरक्षक महेश शर्मा ने कहा कि राजधानी सहित प्रदेश में मासूम सुरक्षित नहीं है लगातार बढ़ती घटनाओं से प्रदेश की कानून व्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है और सरकार सिर्फ तबादलों में व्यस्त थे इस अवसर पर मंच के जिला अध्यक्ष बसंत गन्नोतेविकास शर्मा, यशवंत राजपुत,सुशिला बाई, ओमवती,रामबाई सहीत अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे।

विधानसभा की बैठकें 20 एवं 21 जुलाई को भी आयोजित होंगी जनहित को ध्यान में रखते हुए छुट्टी के दिन भी विधानसभा सत्र जारी रखना, कमलनाथ सरकार का ऐतिहासिक निर्णय
11 July 2019
मध्यप्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा ने आज जारी एक बयान में प्रदेश की कमलनाथ सरकार के निर्णय का स्वागत करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश विधानसभा की कार्यमंत्रणा समिति की 8 जुलाई 2019 को संपन्न हुई बैठक की सिफारिशों को 9 जुलाई 2019 को सदन ने मंजूरी प्रदान की, जिसमें कमलनाथ सरकार का वह ऐतिहासिक निर्णय भी शामिल है, जिसमें छुट्टी के दिनों में भी जनहित का ध्यान रखते हुए विधानसभा की बैठकें आयोजित करने का फैसला लिया गया है।
श्रीमती ओझा ने कहा कि सदन ने कार्यमंत्रणा समिति की सिफारिश को मंजूरी प्रदान करते हुए निर्णय लिया कि विधानसभा की जो बैठकें 15 एवं 16 जुलाई 2019 को होना निर्धारित की गई थीं, वे बैठकें अब शनिवार 20 जुलाई और रविवार 21 जुलाई 2019 को संपन्न होंगी। यह कमलनाथ सरकार का ऐतिहासिक फैसला है। इस निर्णय से यह भी साफ हो गया है कि कमलनाथ सरकार विधानसभा का सत्र चलाने व संवाद के साथ-साथ सकारात्मक और रचनात्मक सुझावों का चर्चा के जरिये न केवल स्वागत करती है, बल्कि संवाद के लिए अवसर भी प्रदान करती है।
श्रीमती ओझा ने कहा कि कांग्रेस ही वह पार्टी है, जो छुट्टी के दिन विधानसभा का सत्र चलाने का कार्य करने की मंशा रखती आई है। यहां यह उल्लेखनीय है कि अप्रैल 1982 में जब प्रदेश में कांग्रेस की सरकार थी, उस समय भी छुट्टी के दिन विधानसभा की बैठक हुई थी और उसमें जनहित के कार्यों पर चर्चा के साथ ही महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये थे।
श्रीमती ओझा ने कहा कि जनहित को लेकर कांग्रेस पार्टी की पवित्र मंशा को दर्शाने वाले इस जनहितैषी निर्णय के ठीक उलट, पूर्ववर्ती भाजपा सरकार सदन को चलाने में विश्वास नहीं रखती थी, तभी तो प्रदेश की जनता ने, उन्हें प्रतिपक्ष की भूमिका में पहुंचा दिया है और कांग्रेस पार्टी को माननीय कमलनाथ जी के नेतृत्व में सत्तापक्ष की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी है।
श्रीमती ओझा ने कहा कि कांग्रेस सरकार का यह निर्णय संसदीय पद्धति और प्रक्रिया के अंतर्गत लिया गया है। यह कार्य जहां संसदीय परंपरा और नियमों को नई ऊंचाई प्रदान करेगा, वहीं यह लोकतंत्र की मजबूती के लिए लिया गया एक सुखद फैसला भी है।

भाजपा सरकार में चमगादड़ से बिजली गुल का पर्दाफाश
11 July 2019
प्रदेश कांग्रेस मीडिया उपाध्यक्ष अभय दुबे और प्रदेश कांग्रेस के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने संयुक्त रूप से बताया है कि यह बेदह दुर्भाग्यपूर्ण है कि आज जब प्रदेश के ऊर्जा मंत्री ने तथ्यात्मक रूप से इस बात को सदन में रखा कि चमगादड़ की बजह से लाईट (ट्रिपिंग) जाती है तो नेता प्रतिपक्ष ने उपहास उड़ाया और कहा कि यह संभव नहीं है।
मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी प्रामाणिक दस्तावेजों के साथ यह सिद्ध कर रही है कि भाजपा सरकार के दौरान कमलापार्क क्षेत्र में एक माह में ही अर्थात 10 मई 2018 से 30 मई 2018 तक अकेले कमलापार्क क्षेत्र में 35 बार रात 12 बजे से अपरान्ह 4 बजे तक की अवधि में ट्रिपिंग हुई है। इतना ही नहीं सुपरवाईजरी कंट्रोल एंड डेटा एक्विजीशन की इंदौर, भोपाल और जबलपुर की वृत की रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है कि 5 मिनिट से लेकर एक घंटे तक विद्युत आपूर्ति भाजपा शासनकाल में अधिक बाधित होती थी।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पहुंचे, कांग्रेसजनों से मिले
11 July 2019
पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया आज अपने निर्धारित दौरा कार्य के अनुसार सुबह 11 बजे भोपाल पहुंचे। वे विधानसभा कार्यवाही देखने पहुंचे। उन्होंने वहां पर मीडिया से चर्चा की, तत्पश्चात मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी के निवास पर पहुंचे।
श्री सिंधिया दोपहर में प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पहुंचे जहां प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष चंद्रप्रभाष शेखर, प्रकाश जैन, महामंत्री राजीव सिंह, मीडिया अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा, मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा, मीडिया उपाध्यक्ष अभय दुबे और भूपेन्द्र गुप्ता, प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी, आदि ने सूत की माला पहनाकर उनका स्वागत किया। श्री सिंधिया ने प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में कांग्रेस के सभी वरिष्ठ नेताओं, कार्यकर्ताओं से मुलाकात कर चर्चा की। इसके बाद वे वरिष्ठ नेता सरताजसिंह का स्वास्थ्य हाल जानने नेशनल हाॅस्पिटल पहुंचे। श्री सिंधिया स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट और मनोज माथुर के निवास पर भी सौजन्य भेंट करने पहुंचे। इस दौरान वे इंडियन काफी हाउस भी गये। उनका रात्रि विश्राम होटल नूर-उस-सबाह में रहेगा। श्री सिंधिया शुक्रवार को सुबह 8 बजे भोपाल से रवाना होकर सुबह 9.25 बजे दिल्ली पहुंचेंगे।
इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में प्रवक्तागण जे.पी. धनोपिया, रवि सक्सेना, दुर्गेश शर्मा, स्वदेश शर्मा, संतोष सिंह गोतम, अब्बास हासमी, अजयसिंह यादव, शाहवर आलम, गिरीश शर्मा, युवा नेता कृष्णा घाड़गे सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।

भारतीय जनता पार्टी मध्य प्रदेश कार्य समिति सदस्यो की सुची
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की रैली ऐतिहासिक, लाखों किसान जुटें उमड़ी भारी भीड़ से व भाजपा के पूर्व कृषि मंत्री द्वारा भाजपा की असलियत उजागर करने से बेचैन भाजपा मनगढ़ंत व झूठे आरोप लगाने लगी किसानों के नाम पर ऋण घोटाला करने वाली भाजपा को तो कर्जमाफी पर बोलने तक का हक नहीं: नरेन्द्र सलूजा
9 February 2019
मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने कहा कि जम्बूरी मैदान पर निरंतर कई फ्लाप आयोजन कर चुकी भाजपा आज कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जी की ऐतिहासिक, यादगार व लाखों भीड़ वाली जनसभा से इतनी बेचेन हो गयी कि मनगढ़ंत व झूठे आरोप लगाने लग गयी। शर्मनाक तो यह है कि सभा प्रारंभ के पूर्व के खाली कुर्सियों के फोटो उतारकर डर्टी पाॅलिटिक्स पर उतर आयी। सलूजा ने कहा कि राहुल गांधी जी की मंदसौर के पीपलियामंडी में 6 जून 2018 को सरकार बनने के दस दिन के भीतर किसानों के कर्ज माफी की घोषणा के बाद प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने पदभार ग्रहण करने के एक घंटे के भीतर ही किसानो के कर्ज माफी के क्रांतिकारी फैसले पर हस्ताक्षर कर इतिहास रच दिया। किसानो में इस फैसले से हर्ष व्याप्त है। प्रदेश के लाखों किसान इस ऐतिहासिक किसान हितैषी फैसले पर राहुल जी व कमलनाथ जी का आभार मानना चाह रहे थे।इसलिए आज प्रदेश के दूर-दूर इलाकों से लाखों किसान जम्बूरी मैदान पर एकत्रित हुए और उन्होंने राहुल जी व कमलनाथ जी का आभार माना। चूंकि भाजपा जम्बूरी मैदान पर पूर्व में कई सरकारी खर्चे व तामझाम से फ्लाप आयोजन कर चुकी है और अभी हाल ही में भाजपा ने इसी मैदान पर 13 लाख टारगेट वाला महाकुंभ मोदी जी व अमित शाह के नाम पर आयोजित किया था जो कि सुपर फ्लाप रहा, उसमें बमुश्किल 50 हजार लोग ही जुटे और कांग्रेस के इसी मैदान पर आयोजित आज के किसान आभार सम्मेलन में जब लाखों किसानो की भीड़ बगैर सरकारी खर्च व तामझाम के जुटी तो भाजपा के पेट में दर्द होना स्वाभाविक ही था। साथ ही भाजपा के पूर्व कृषि मंत्री रामकृष्ण कूसमारिया ने जिस प्रकार से आज इस आयोजन में भाजपा छोड़, कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की व जिस प्रकार से भाजपा की वास्तविकता उजागर की, उसके किसानो के प्रति दोहरे चरित्र को उजागर किया, उसकी किसान नीतियो की खुलकर आलोचना की, कांग्रेस की दिल खोलकर प्रशंसा की, किसानो की कर्ज माफी के निर्णय की जमकर तारीफ की, उससे भाजपा का पेट दुखना स्वाभाविक है।भाजपा को तो वेसे भी किसानो की कर्ज माफी पर बोलने तक का हक नहीं है।जिस भाजपा ने अपनी 15 वर्ष की सरकार में किसानो का एक रुपये का कर्ज भी माफ नहीं किया।किसानो की कर्ज माफी का खुलकर मजाक उड़ाया, वो आज कांग्रेस के कर्जमाफी के निर्णय पर किस हक से बात कर रही है। सलूजा ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष भार्गव यह जान ले कि किसानो के कर्जमाफी की प्रक्रिया जोर शोर से जारी है।शीघ्र ही उनके समक्ष किसानो की कर्ज माफी के सारे सार्वजनिक आँकड़े होंगे और साथ ही भाजपा सरकार के समय के करोड़ों के फर्जी किसान ऋण के सारे आँकड़े भी कांग्रेस सरकार सार्वजनिक कर उनके समक्ष भिजवा देगी।जिससे वह भी जान ले कि उनकी किसान पुत्र की सरकार में किसानों के नाम पर केसे-केसे फर्जीवाडे व घोटाले किये गये। सलूजा ने कहा कि भार्गव यह भी जान ले कि जिस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष तडीपार, रिश्वतखोर, हत्याओं के आरोपी रहे हो, उन्हें दूसरों पर कीचड़ उछालने का कोई हक नहीं है।

कर्ज माफी हुई नहीं, अब गारंटीड इनकम का झुनझुना बजा रहे राहुल गांधी : राकेश सिंह
8 February 2019
भोपाल। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को यह याद नहीं है कि उन्होंने भोपाल में ही कांग्रेस की सरकार बनने पर 10 दिनों में किसानों का कर्जा माफ करने की बात कही थी। कांग्रेस की सरकार बने हुए 45 से अधिक दिन हो गए हैं, लेकिन अभी तक प्रदेश में एक भी किसान का कर्जा माफ नहीं हुआ है। ऊपर से देश और प्रदेश के लोगों को बरगलाने के लिए राहुल अब गारंटीड इनकम की बात कर रहे हैं। यह बात शुक्रवार को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा जम्बूरी मैदान में आयोजित कार्यक्रम के दौरान दिए गए भाषण पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कही।
कर्जमाफी पर किसानों को धोखा कर रही कांग्रेस
श्री राकेश सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के दौरान तीनों राज्यों में किसानों का कर्जा माफ करने की बात कही थी, लेकिन अब तक म.प्र., छत्तीसगढ़ और राजस्थान तीनों राज्यों में किसानों का कर्ज माफ नहीं हुआ है। यही नहीं, बल्कि पंजाब और कर्नाटक में भी कांग्रेस ने किसानों के साथ ऐसा ही छल किया है। श्री सिंह ने कहा कि कर्ज माफी के नाम पर कांग्रेस की प्रदेश सरकार ने सिर्फ घोषणा की है और किसानों को लाल-पीले आवेदन फॉर्म में उलझाने का काम किया है। यही नहीं, बल्कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अब गारंटीड इनकम की बात करके देश के लोगों को बरगला रहे हैं, जो एक और धोखाधड़ी है।
70 सालों से क्यों नहीं ली किसानों की सुध
श्री राकेश सिंह ने कांग्रेस और उसके अध्यक्ष राहुल गांधी को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई किसान सम्मान निधि का मखौल उड़ाने पर फटकार लगाते हुए कहा कि कांग्रेस और उसके नेता अब यह दिखाने की कोशिश कर रहे हैं कि देश में उनसे बड़ा किसानों का शुभचिंतक नहीं है। जबकि वास्तविकता इसके विपरीत है। कांग्रेस ने अपने 70 सालों के शासन में किसानों को कमजोर करने, साहूकारों और सरकारों पर निर्भर करने का काम किया है। उन्होंने सवाल किया कि प्रधानमंत्री सम्मान निधि का मजाक उड़ाने वाले नेताओं और उनकी पार्टी ने कभी देश के किसानों के लिए ऐसा प्रावधान किया है? अगर वे वास्तव में किसानों के शुभचिंतक हैं, तो क्यों 70 सालों तक देश के किसानों की दुर्गति देखते रहे। अब प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने किसानों को अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए पहल की है, तो मजाक उड़ा रहे हैं।
मनगढ़ंत आरोपों की बजाय आंकड़े देख ले कांग्रेस
प्रदेश अध्यक्ष श्री सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया, स्किल इंडिया जैसे कार्यक्रमों को असफल बताए जाने पर कहा कि कांग्रेस और उसके नेता इन कार्यक्रमों को असफल बताकर सच्चाई से मुंह फेर रहे हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा शुरू किए गए इन कार्यक्रमों का असर पूरे देश में महसूस किया जा रहा है। यही नहीं, बल्कि कई विदेशी नेता और व्यापारिक संगठन भी प्रधानमंत्री मोदी द्वारा शुरू किए गए इन कार्यक्रमों के महत्व और इनके असर को महसूस कर चुके हैं। यह एक सच्चाई है और कांग्रेस अगर उसे नहीं मानती, तो इन कार्यक्रमों के संबंध में सालाना आंकड़े उठा कर देख ले, सारी बात साफ हो जाएगी।
बंदरिया के सीने से छूट नहीं रहा मरा हुआ बच्चा
श्री सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा सभा के दौरान राफेल मुद्दे का जिक्र करने और प्रधानमंत्री मोदी के बारे में अपमानजनक टिप्पणी करने पर उन्हें आड़े हाथों लेते हुए कहा कि यह राहुल गांधी और कांग्रेस के अन्य नेता भी जानते हैं कि श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर पिछले साढ़े चार सालों में एक भी आरोप नहीं लगा है, जबकि कांग्रेस की हर सरकार के दौरान घोटालों की भरमार रही है। इसीलिए कांग्रेस के इन नेताओं को मोदी सरकार की बेदाग छवि हजम नहीं हो रही है। वे किसी भी तरह मोदी जी की सरकार की छवि को खराब करना चाहते हैं, चाहे इसके लिए झूठ ही क्यों न बोलना पड़े। श्री सिंह ने कहा कि राफेल सौदे में कहीं कोई गड़बड़ी नहीं है, यह बात सुप्रीम कोर्ट और राफेल विमान बनाने वाली कंपनी की सीईओ भी कह चुके हैं। इसके बाद भी यदि राहुल गांधी यह मानते हैं कि उनके पास इस सौदे में हुई गड़बड़ी के कोई सबूत हैं, तो उन्होंने वह सबूत सुनवाई के दौरान माननीय सुप्रीम कोर्ट को क्यों नहीं दे रहे। श्री सिंह ने कहा कि कांग्रेस को भी पता है कि इस सौदे में कोई गड़बड़ी नहीं है, लेकिन मोदी सरकार के खिलाफ कोई मुद्दा न होने के कारण वे राफेल डील को इस तरह सीने से लगाए हुए हैं, जिस तरह एक बंदरिया अपने मृत बच्चे को भी सीने से चिपका घूमती रहती है। श्री सिंह ने कहा कि कांग्रेस चाहे कितना भी झूठ बोल ले, देश और प्रदेश के युवाओं, किसानों और महिलाओं को बरगलाने की कितनी भी कोशिश कर ले, लेकिन वह अपने इस प्रपंच में कामयाब नहीं होगी। उन्होंने कहा कि देश और प्रदेश के लोग कांग्रेस के इस झूठ को पहचान चुके हैं और आने वाले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को इसका जवाब जरूर देंगे।

हर गरीब को आमदनी की गारंटी देगी कांग्रेस भारत इनकम गारंटी देने वाला विश्व का पहला देश होगा मोदी सरकार ने 17 रूपये देकर जनता का अपमान किया: श्री राहुल गांधी
8 February 2019
अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष श्री राहुल गांधी ने कहा कि सरकार बनने पर कांग्रेस इस देश के हर गरीब व्यक्ति को आमदनी की गारंटी देने के वायदे को पूरा करेगी। विश्व में भारत पहला ऐसा देश होगा जो लोगों को इनकम की गारंटी देगा। नरेन्द्र मोदी सरकार ने 17 रूपये देकर जनता का अपमान किया है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश को देश का कृषि सेंटर बनायेंगे। श्री राहुल गांधी आज यहां जम्बूरी मैदान में किसान आभार रैली को संबोधित कर रहे थे। सभा में अलग-अलग जिलों और शहरों से हजारों की संख्या मंे किसान पहुंचे थे। श्री गांधी ने कहा कि किसानों की शक्ति ने छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस को जिताया है। इस देश की मालिक जनता है। मालिक युवा और किसान हैं। प्रदेश की नयी सरकार कांग्रेस की नहीं बल्कि, युवाओं, किसानों, महिलाओं, मजदूरों और गरीबों की सरकार है। हमारा काम इन सभी के आदेश को सुनना है। हम 56 इंच की छाती वाले लोगों की तरह नहीं हैं। श्री गांधी ने कहा कि पांच साल पहले नरेन्द्र मोदी ने कहा था कि मेरा 56 इंच का सीना है, मैं देश का चैकीदार हूं, भ्रष्टाचार को मिटाऊंगा। आज कहते हैं कांग्रेस को मिटाऊंगा। उन्होंने कहा कि आरएसएस और बीजेपी ने मध्यप्रदेश में सरकार को ब्यूरोक्रेट्स के माध्यम से चलाया। कांग्रेस पार्टी सरकार को ब्यूरोक्रेट्स के माध्यम से नहीं पंचायत राज, जनता और कार्यकर्ताओं के माध्यम से चलाती है। उन्होंने कहा कि हम प्रदेश में फुड प्रोसेसिंग उद्योग और कोल्ड स्टोरेज का जाल बिछाने जा रहे हैं और मध्यप्रदेश को कृषि का केंद्र बनायेंगे।
श्री राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस सरकारों ने हरित क्रांति, श्वेत क्रांति, मनरेगा, भोजन का अधिकार, कम्प्यूटर क्रांति जैसी योजनाओं से देश को बदलने का काम किया। किसानों का कर्जा माफ कर हमने उन्हंे फ्री गिफ्ट नहीं, बल्कि न्याय दिया है। जब अनिल अंबानी, नीरव मोदी, मेहुल चैकसी, विजय माल्या जैसे बड़े अमीरांे के 3 लाख 50 हजार करोड़ रूपये माफ हो सकते हंै तो किसानों का क्यों नहीं? उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने बिना रक्षा मंत्री को बताये फ्रांस से राफेल विमानों का सीधा सौदा कर लिया। लोकसभा में एक मिनिट भी राफेल पर बात नहीं की। सच्चाई को छुपाया नहीं जा सकता। उन्होंने किसानों से कहा कि मैं आपको दिल से धन्यवाद देता हूं कि आपकी शक्ति ने कांग्रेस की सरकार बनायी है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मध्यप्रदेश की जनता को धन्यवाद देते हुए कहा कि उसने सच्चाई का साथ दिया है। कांग्रेस की सरकार से जनता निराश नहीं होगी। अभी सरकार बने केवल 45 दिन हुए हैं। सौ दिन पूरे होने दीजिये, भाजपा की और कांग्रेस की सरकार का अंतर साफ दिखने लगेगा। मैंने पहले दिन कह दिया था कमलनाथ की फोटो किसी विज्ञापन में नहीं लगेगी। हमारे सामने बहुत बड़ी चुनौती है। तिजोरी खाली है और पूरी व्यवस्था चैपट है। प्रदेश बेरोजगारी, किसानों की आत्महत्या, बलात्कार और महिलाओं पर अत्याचार, सभी में नंबर वन हो गया। इन परिस्थितियों में कांग्रेस सरकार ने प्रदेश का भार संभाला है। आज हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती नौजवान और किसान हैं। सबसे पहले कृषि क्षेत्र को जीवित करना होगा। मध्यप्रदेश और देश की जनता ने और खासकर नौजवानों ने मोदी का चेहरा अच्छी तरह पहचान लिया है। उन्होंने कहा कि निवेश विश्वास से आता है। हम विश्वास की सरकार बनायेंगे। उन्होंने कहा कि कर्जमाफी से 45 लाख किसानों का कर्जा माफ होगा। सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि जनता झूठ की सरकार से प्रताड़ित हो रही थी। अब उसे परिश्रमी लोकसेवक के रूप में कमलनाथ जैसे योग्य मुख्यमंत्री मिले हैं। यह एक ऐतिहासिक परिवर्तन है। इस मैदान से यह संदेश जायेगा कि जिन लोगों ने छल, कपट और झूठ की राजनीति की है, उसे जनता ने उखाड़ दिया है। मोदी-शाह को अब भारत की जनता जान चुकी है। प्रदेश प्रभारी और महासचिव दीपक बावरिया ने कहा कि विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की ऐतिहासिक जीत में प्रजा ने भाजपा को जवाब दे दिया है। किसानों और युवाओं में कांग्रेस सरकार बनने के बाद एक विश्वास पैदा हुआ है। कांग्रेस ने प्रजा के सामने जो वचन दिये थे वे पूरे किये जा रहे हैं। पूर्व सांसद रामकृष्ण कुसमरिया और आरपीआई के डोमनसिंह नगपुरे कांग्रेस में शामिल श्री राहुल गांधी की उपस्थिति में पूर्व भाजपा सांसद रामकृष्ण कुसमरिया और पूर्व मंत्री एवं आरपीआई के डोमनसिंह नगपुरे कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए। दीपक बावरिया ने उन्हें सूत की माला पहनाकर विधिवत कांग्रेस में प्रवेश कराया। कुसमरिया ने कहा कि भाजपा ने अपने बुजुर्गों का अपमान किया है। अपने आपको संस्कारित कहने वाली भाजपा ने पार्टी के बुजुर्गों को एक तरह से जेल में डाल दिया है। भाजपा की रीति-नीति और क्रियाकलापों के कारण मुझे पार्टी छोड़कर कांग्रेस में आना पड़ा। कांग्रेस का वचनपत्र पढ़कर लगा कि वास्तव में अब अच्छे दिन आने वाले हैं। कर्जमाफी कर सरकार ने बड़ा काम किया है। कमलनाथ के नेतृत्व मंे मध्यप्रदेश सर्वश्रेष्ठ बनेगा। इस अवसर पर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह, सांसद कांतिलाल भूरिया, विवेक तन्खा और राजमणि पटेल, पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजयसिंह, पूर्व सांसद सुरेश पचैरी, अरूण यादव सहित प्रदेश के सभी मंत्री, कांग्रेस विधायक, प्रदेश कांग्रेस के संगठन प्रभारी उपाध्यक्ष चंद्रप्रभाष शेखर सहित सभी कांग्रेस पदाधिकारी और कार्यकर्ता उपस्थित थे। पूर्व में श्री राहुल गांधी का सूत की माला पहनाकर स्वागत किया गया। उन्हें किसान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुर्जर और महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष मांडवी चैहान द्वारा हल की प्रतिकृति स्मृति चिन्ह के रूप में भेंट की गयी। मंत्री ओमकारसिंह मरकाम ने आदिवासी परंपरा से साफानुमा टोपी पहनाकर भी श्री राहुल गाधी का स्वागत किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ वंदे मातरम गायन से और समापन राष्ट्रगीत से हुआ। कार्यक्रम का संचालन प्रदेश प्रभारी महामंत्री राजीव सिंह ने किया। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष श्री गोविंद गोयल द्वारा श्रीमती इंदिरा गोयल की स्मृति में गोविंद गोयल अखिल भारतीय कवि सम्मेलन, सांस्कृतिक मनोरंजन मेला एवं जनसमस्या निवारण यात्रा का आयोजन किया जा रहा है। श्री गोविंद गोयल द्वारा आयोजित किये जा रहे उक्त आयोजनों की विस्तृत जानकारी के संबंध में शनिवार, 9 फरवरी 2019 को दोपहर 12 बजे टी.टी. नगर, न्यू मार्केट स्थित इंडियन काफी हाउस में एक पत्रकार वार्ता आयोजित की गई है। पत्रकार वार्ता में आप सादर आमंत्रित हैं।

संचालक करते थे बच्चियों का यौन षोषण और भाजपा सरकार देती थी उस आश्रय गृह को 16 लाख रूपये प्रतिमाह: शोभा ओझा
31 January 2019
प्रदेष कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा ने जावरा, रतलाम के कुंदन कुटीर आश्रय गृह से भागी बालिकाओं के मामले में, गिरफ्तार हुए आरोपियों में संघ के कार्यकर्ता की भी गिरफ्तारी को संघ और भाजपा के लोगों का असली चरित्र बताते हुए कहा कि, यह पिछले पंद्रह सालों में भाजपा सरकार द्वारा जारी रहे जंगलराज को ही दर्षाने का एक और उदाहरण मात्र हैै। श्रीमती ओझा ने कहा कि मामले में पाॅस्को ऐक्ट के साथ ही धारा 376 और अन्य धाराओं में जिन चार आरोपियों पूर्व संचालिका रचना भारतीय, ओमप्रकाष भारतीय, सन्देष जैन और संघ के सक्रिय कार्यकर्ता दिलीप बरैया को गिरफ्तार किया गया है, वे लंबे समय से षराब पीकर नाबालिग बच्चियों के साथ मारपीट करने के साथ ही यौन षोषण भी करते थे। ऐसी संस्था को भाजपा की प्रदेष सरकार 16 लाख रूपये महीने की आर्थिक मदद करती थी। वर्षोें तक बिना जंाच के चहेतों को फायदा पहंुचाने के लिए ऐसी संस्था की सरकार द्वारा आर्थिक मदद करते रहना षर्मनाक है। श्रीमती ओझा ने कहा कि पिछले 15 सालों से एक ऐसी असंवेदनषील सरकार सत्ता पर काबिज थी जिसके संरक्षण में ऐसी दानवी संस्थाएॅं फल-फूल रही थीं, जिनमें अपराधी दंडित होने की बजाय सरकार की वित्तीय मदद् का लाभ उठा रहे थे। श्रीमती ओझा ने कहा कि पूर्व में भी होषंगाबाद, बैरागढ़ और भोपाल के ऐसे कई उदाहरण सामने आए थे, जहां मूक-बधिर और नाबालिग बच्चियों के साथ क्रूरता, बलात्कार और आप्राकृतिक दुष्कर्म की घटनाएं र्हुइं थी, जिसका कि प्रदेष कांग्रेस ने पत्रकार-वार्ताओं के माध्यम से समय-समय पर खुलासा किया था लेकिन भाजपा की तत्कालीन गूॅंगी-बहरी सरकार के कान पर जूॅं तक नहीं रेंगी थी। कांग्रेस के दबाव में उसने केवल आधी-अधूरी कार्यवाहियाॅं ही की थी, क्योंकि फंसने वाले भाजपा के चहेते थे। सभी जानते हैं कि बैरागढ़ और भोपाल मे संचालित आश्रय गृहों के कर्ताधर्ता एम.पी. अवस्थी और अष्विनी षर्मा जो कांग्रेस के खुलासे के बाद गिरफ्तार हुए थे, उनके घृणित और पाषविक कृत्यों को कौन वित्त पोषित और संरक्षित कर रहा था? श्रीमती ओझा ने पुलिस अधिकारियों के द्वारा जावरा के आश्रय गृह में घटित घटना के आरोपियों की षीघ्र गिरफ्तारी और आश्रय-गृह को सील करने की त्वरित कार्यवाही पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए अपराधियों को चेतावनी दी है, कि प्रदेष में कांग्रेस की सरकार ऐसे दुष्कृत्यों को किसी भी कीमत पर बर्दाष्त नहीं करने वाली है।
एक फरवरी को नये स्वरूप में वल्लभ भवन पर होगा राष्ट्र गीत ‘वंदे मातरम्’ का गायन: शोभा ओझा
प्रदेष कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती षोभा ओझा ने कहा कि भोपाल में राष्ट्रगीत ‘वन्दे मातरम्’ का गायन नए स्वरूप में जनता की सहभागिता के साथ गाए जाने की व्यवस्था की गई है। मध्यप्रदेष की कांग्रेस सरकार द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में दिनांक एक फरवरी को इस हेतु पुलिस बैण्ड के साथ राष्ट्रीय भावना को जाग्रत करने वाले गीतों की धुन बजाते हुए षौर्य-स्मारक से 10ः45 बजे प्रारंभ होकर जनसमूह वल्लभ भवन पहुंचेगा। पुलिस बैण्ड के वल्लभ भवन प्रांगण पहुंचने पर राष्ट्रीय गान ‘जनगणमन’ और राष्ट्रगीत ‘वन्दे-मातरम्’ गाया जाएगा। वल्लभ भवन प्रांगण में राज्य षासन के अधिकारी, कर्मचारियों के साथ ही कांग्रेसजन और आम नगरिक भी कार्यक्रम में सम्मिलित होंगे। श्रीमती ओझा ने कहा कि संभाग एवं जिला मुख्यालयों पर भी उक्त कार्यक्रम समारोहपूर्वक आयोजित किया जायेगा।

नगरीय प्रशासन मंत्री जयवधर्न सिंह ने प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में कांग्रेसजनों एवं आम नागरिकों से मुलाकात की उनकी समस्याओं के शीध्र निराकरण के आदेश दिये
31 January 2019
नगरीय प्रशासन मंत्री श्री जयवर्धन सिंह ने आज प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पहुंचकर आम जनता एवं कांग्रेसजनों की समस्याऐं सुनी और चुनिंदा मामलों में तत्काल निराकरण के आदेश दिये। श्री जयवर्धन सिंह ने कहा कि जमीनी स्तर पर काम करने वाले कांग्रेसजनों को न सिर्फ आम जनता से जुड़े हुए असली मुद्दों की बेहतर जानकारी है, बल्कि उसके निराकरण के लिए सरकार को उमदा सुझाव भी देते हैं। श्री सिंह ने कहा कि नगरीय प्रशासन विभाग द्वारा शीघ्र ही नौजवानों को साल में 100 दिन का रोजगार देने की योजना प्रारंभ की जा रही है। एक और वचन निभाते हुए कांग्रेस सरकार मध्यप्रदेश के बेरोजगार नौजवानों को कौशल विकास के साथ-साथ रोजगार से जोड़ने की योजना पर शीघ्र अमल करेगी। श्री सिंह ने प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष संगठन प्रभारी चंद्रप्रभाष शेखर, प्रकाश जैन, महामंत्री राजीव सिंह और मृणाल पंत से संगठनात्मक गतिविधियों और आगामी लोकसभा चुनाव की तैयारियों पर भी चर्चा की। पार्टी के विभिन्न पदाधिकारियों श्री जे.पी. धनोपिया, श्रीमती विभा पटेल, निहाल अहमद, गन्नू तिवारी, गुडडू अनीस आदि ने भी श्री जयवर्धन सिंह द्वारा नगरीय विकास संबंधित कार्यों को तेज गति से किये जाने पर स्वागत करते हुए अपने-अपने सुझाव दिये।
प्रदेश अध्यक्ष ने प्रबुद्धजनों संग सुनी प्रधानमंत्री के ‘मन की बात’
27 January 2019
जबलपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष, सांसद श्री राकेश सिंह ने रविवार को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के ‘मन की बात’ जबलपुर में प्रबुद्धजनों और भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ सुनी। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि ‘मन की बात’ कार्यक्रम के जरिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने देश के लोगों को समाज और जीवन के बहुत ही साधारण लेकिन अनछूओं पहलुओं से अवगत कराने की परंपरा प्रारंभ की है। प्रदेश भर में पार्टी कार्यकर्ताओं ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम को लाइव सुना। जबलपुर के गोलबाजार स्थित शहीद स्मारक भवन में ‘मन की बात’ कार्यक्रम के बाद श्री राकेश सिंह ने कहा कि श्री नरेंद्र मोदी देश के पहले प्रधानमंत्री हैं जो आमजन से ‘मन की बात’ के माध्यम से सीधे जुड़े हैं। ‘मन की बात’ कार्यक्रम से करोड़ों लोगों ने देश और समाज की उन सारी परिस्थितियों को बारीकी से जाना है, जिसकी आवश्यकता देश को थी। उन्होंने कहा कि आज मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने नेताजी सुभाषचंद्र बोस, गुरूवर रविन्द्रनाथ टैगोर और संत रविदासजी जैसे अनेक महापुरूषों के जीवन के बारे में वह बाते साझा की हैं, जिससे देश के लोगों को प्रेरणा मिलती है। प्रधानमंत्री जी ने युवाओं का आव्हान करते हुए यह बताया कि आज हमारा अंतरिक्ष विज्ञान किस तरह आगे बढ़ रहा है। युवा आने वाले समय में उनके सामने जो चुनौतियां हैं उनका किस तरह डटकर सामना करें और कैसे आगे बढ़ें उसकी जानकारी भी उन्होंने बहुत ही सरल तरीके से बताई। मन की बात का प्रत्येक कार्यक्रम देखने और अनुकरणीय योग्य है। इस अवसर पर उद्योगपति श्री कैलाश गुप्ता, डाॅ. राजेश धरावाड़ी, चेम्बर आॅफ काॅमर्स के श्री रवि गुप्ता, जिला अध्यक्ष श्री जीएस ठाकुर, ग्रामीण जिला अध्यक्ष श्री ओमप्रकाश पटेल, विधायक श्री सुशील इंदु तिवारी, श्रीमती नंदनी मरावी, महापौर श्रीमती स्वाति गौडवोले सहित पार्टी के कार्यकर्ता, पार्षद एवं प्रबुद्धजन उपस्थित थे। भोपाल के मानस भवन में पार्टी कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के कार्यक्रम ‘मन की बात’ का सीधा प्रसारण देखा। इस अवसर पर सांसद श्री आलोक संजर, महापौर श्री आलोक शर्मा, प्रदेश महामंत्री श्री विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश मंत्री व विधायक श्रीमती कृष्णा गौर, जिला अध्यक्ष श्री सुरेंद्रनाथ सिंह सहित पार्टी कार्यकर्ता उपस्थित थे।
पं. दीनदयाल परिसर में ध्वजारोहण
27 January 2019
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश कार्यालय पं. दीनदयाल परिसर में गणतंत्र दिवस पर समारोह पूर्वक ध्वजारोहण के साथ पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री प्रभात झा ने राष्ट्रीय ध्वज फहराते हुए सभी को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं दी। गणतंत्र दिवस पर प्रदेश कार्यालय परिसर में पार्टी के महापुरूषों की प्रतिमाओं पर पुष्पांजलि अर्पित की गई। कार्यालय भवन को रंग बिरंगी रोशनी से आलोकित किया गया। सभी 56 संगठनात्मक जिला कार्यालयों में ध्वजा रोहण संपन्न हुआ। इस अवसर पर पार्टी के प्रदेश महामंत्री श्री अजयप्रताप सिंह, प्रदेश प्रवक्ता व सांसद श्री आलोक संजर, प्रदेश कार्यालय मंत्री श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, श्री सत्येन्द्र भूषण सिंह, डाॅ. हितेष वाजपेयी, श्रीमती ऊषा चतुर्वेदी, श्रीमती शशि सिन्हो, श्री रामकिशन सिंह चैहान, श्री सुरजीत सिंह चैहान, श्री शिवराज डाबी, श्री भगतसिंह कुशवाह, श्री अनिल अग्रवाल, श्री अशोक सैनी, श्री सुनील पाण्डे, श्री विकास बोंद्रिया, श्रीमती अर्चना पाण्डे, श्रीमती भावना सिंह, श्रीमती बृजुला सचान, श्रीमती पुष्पा राय, श्रीमती सरिता यादव, श्रीमती हंसकुंवर राजपूत सहित पार्टी कार्यकर्ता एवं कार्यालय परिवार उपस्थित था।
प्रदेश में बढ़ रहे अपराध, अनर्गल बयान दे रहे कांग्रेस के नेताः शिवराजसिंह चौहान श्रद्धांजलि देने बलवाड़ी मंडल अध्यक्ष स्व. ठाकरे के निवास पर पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री
22 January 2019
भोपाल। प्रदेश में कांग्रेस सरकार के सत्ता में आने के बाद से अपराध लगातार बढ़ रहे हैं। दूसरी तरफ कांग्रेस के नेता और सरकार के मंत्री अनर्गल बयानबाजी में व्यस्त हैं। वे भाजपा नेताओं की हत्या के लिए पैसों के लेन-देन का विवाद और पार्टी का अंदरूनी मामला जैसे बयान देते हैं। यह बात मंगलवार को बड़वानी जिले के बलवाड़ी में दिवंगत मंडल अध्यक्ष मनोज ठाकरे के निवास पर श्रद्धांजलि अर्पित करने पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री एवं पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री शिवराजसिंह चौहान ने कही। मॉर्निंग वॉक के लिए घर से निकले भारतीय जनता पार्टी के बलवाड़ी मंडल अध्यक्ष मनोज ठाकरे का शव बीते दिनों सड़क किनारे पाया गया था। उनके सिर में पत्थर से चोट लगने का निशान पाया गया था, जिससे उनकी हत्या किए जाने का संदेह है। पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री शिवराजसिंह चौहान मंगलवार को बलवाड़ी स्थित स्व. ठाकरे के निवास पर पहुंचे और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। पूर्व मुख्यमंत्री ने स्व. ठाकरे के परिजनों से भेंट कर उन्हें सांत्वना भी दी। पूर्व मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि एक तरफ भाजपा के नेताओं और कार्यकर्ताओं की हत्याएं हो रही हैं, वहीं सरकार में बैठे लोग बचकाना बयान दे रहे हैं। वो कहते हैं कि पैसे के लेन-देन में मंदसौर नगरपालिका अध्यक्ष की हत्या हुई। क्या महज 25 हजार रुपयों के लिए एक नगरपालिका अध्यक्ष की हत्या हो सकती ह ै? पहले जिले के एसपी एक बनी-बनाई कहानी सुनाते हैं और फिर आरोपी से भी वही बयान दिलाया जाता है। यह सोचने की बात है कि अगर आरोपी के पास कुछ भी पैसे नहीं थे, तो वह हत्या के लिए कट्टा और कारतूस कहां से लाया। स्व. मनोज ठाकरे की हत्या के मामले में भी पुलिस को अब तक कोई सुराग नहीं मिला है। श्री चौहान ने कहा कि हम सवाल सरकार से करते हैं, तो जवाब पूर्व मुख्यमंत्री दे रहे हैं। समझना मुश्किल है कि सरकार चला कौन रहा है। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री चौहान के साथ पूर्व कैबिनेट मंत्री अंतरसिंह आर्य, जिला अध्यक्ष श्री ओम खंडेलवाल, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य श्री वीरा स्वामी, श्री सुभाष जोशी, श्री ओम सोनी सहित जिले के सैकड़ों पार्टी कार्यकर्ता मौजूद थे।
ईवीएम हैकिंग की बात करके लोकसभा चुनाव में हार के बहाने तलाश रही कांग्रेस : अरविन्द भदौरिया भोपाल। कांग्रेस द्वारा देश के लोकप्रिय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार के खिलाफ उठाए गए सारे मुद्दे फ्लॉप साबित हुए हैं। ऐसे में कांग्रेस को आने वाले लोकसभा चुनाव में अपनी हार सुनिश्चित नजर आ रही है और इसीलिए उसने अभी से इस हार के बहाने तलाशना शुरू कर दिया है। भाजपा पर ईवीएम हैकिंग का आरोप लगाना इसी कवायद का हिस्सा है। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष व विधायक श्री अरविन्द भदौरिया ने कांग्रेस द्वारा कथित सायबर एक्सपर्ट के हवाले से भाजपा पर ईवीएम हैकिंग के आरोप लगाए जाने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कही। कांग्रेस ने अमेरिका बेस्ड कथित सायबर एक्सपर्ट सैयद शुजा के हवाले से भारतीय जनता पार्टी पर ईवीएम हैकिंग कर सरकार बनाने के आरोप लगाए हैं। इन आरोपों को दुष्प्रचार का हथकंडा बताते हुए भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अरविन्द भदौरिया ने कहा है कि कांग्रेस सिर्फ दुष्प्रचार करना जानती है। यदि वास्तव में ईवीएम इतनी असुरक्षित थी, तो कांग्रेस और ईवीएम पर सवाल उठाने वाले अन्य दलों के नेता निर्वाचन आयोग द्वारा तीन बार बुलाए जाने के बाद भी ईवीएम को हैक करके दिखाने क्यों नहीं गए ? श्री भदौरिया ने कहा कि यदि कांग्रेस वास्तव में ईवीएम को असुरक्षित मानती है, तो मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकारों को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए, क्योंकि इन राज्यों में भी चुनाव ईवीएम के जरिए ही हुए हैं। श्री अरविन्द भदौरिया ने कहा कि भाजपा पर ईवीएम हैकिंग के आरोप लगाने का यह पूरा मामला ही संदिग्ध है, जिससे किसी बड़े षडयंत्र की बू आती है। उन्होंने कहा कि यदि 2014 में ईवीएम हैक की गई थी, तो आरोप लगाने वाला व्यक्ति पिछले 4 सालों से क्या कर रहा था, वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए आरोप लगाने वाले कथित सायबर एक्सपर्ट ने अपना चेहरा क्यों छुपा रखा था और लंदन में हुई उस कांफ्रेंस में कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल क्या कर रहे थे। ये ऐसे बिंदु हैं, जो यह बताते हैं कि कांग्रेस ईवीएम के जरिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ दुष्प्रचार की सुनियोजित रणनीति पर काम कर रही है।
लोकसभा चुनाव प्रभारी स्वतंत्रदेव सिंह 23 से प्रदेश प्रवास पर भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के लोकसभा प्रभारी व उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री श्री स्वतंत्रदेव सिंह 23 से 25 जनवरी तक प्रदेश प्रवास पर रहेंगे। आप 23 जनवरी को प्रातः 11 बजे मुरैना लोकसभा क्षेत्र के पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में शामिल होंगे। दोपहर 3 बजे ग्वालियर पहुंचकर लोकसभा चुनाव से संबंधित पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में भाग लेंगे। श्री सिंह 24 जनवरी को प्रातः 7.30 बजे निजामुद्दीन-जबलपुर एक्सप्रेस द्वारा जबलपुर पहुंचेंगे। प्रातः 9 बजे अमझार, भजिया, कुंदम होते हुए जनपद मंडला पहुंचेंगे। दोपहर 12 बजे लोकसभा चुनाव से संबंधित पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में शामिल होंगे। रात्रि 11.55 बजे जबलपुर-इंदौर एक्सप्रेस द्वारा भोपाल रवाना होंगे। 25 जनवरी को प्रातः 6 बजे भोपाल पहुंचकर प्रातः 9.30 बजे प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक में शामिल होंगे। आप रात्रि 9 बजे भोपाल से उरई रवाना हो जायेंगे।

बिचौलियों के बगैर कांग्रेस सरकार ने कोई रक्षा समझौता नहीं किया: आलोक संजर
30 December 2018
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता एवं सांसद श्री आलोक संजर ने कहा कि अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले में ईडी के सामने क्रिश्चियन मिशेल के खुलासे से यह पूरी तरह साफ हो गया कि बिचैलियों के बगैर कांग्रेस सरकार ने कोई रक्षा समझौता नहीं किया। सोनिया-राहुल के नेतृत्व में कांग्रेस की यूपीए सरकार ने राष्ट्र की सुरक्षा के साथ समझौता किया। श्री संजर ने कहा कि कोर्ट में ईडी के खुलासे से यह स्पष्ट हो चुका है कि कांग्रेस सच को छुपाने की भले ही कितनी भी कोशिश करे लेकिन सच को छुपाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि ईडी ने कोर्ट में चैंकाने वाला खुलासा किया है कि जांच में मिशेल ने मिसेज गाँधी का नाम लिया है। अब ईडी ने कोर्ट को कुछ और नामों के बारे में जानकारी दी है जिसे अगस्ता वेस्टलैंड मामले में आरोपी और बिचैलिए क्रिश्चियन मिशेल ने पूछताछ के दौरान बताया है। इसमें बिग मैन, सन ऑफ इटैलियन लेडी, पार्टी लीडर, त् जैसे शब्द हैं। ये सभी एक ही परिवार विशेष की तरफ इशारा करते हैं। उन्होंने कहा कि लगातार कांग्रेस के काले कारनामों का खुलासा हो रहा है। नेशनल हेराल्ड मामले में हेराल्ड हाउस को खाली कराने के निर्देश दिल्ली उच्च न्यायालय ने दिया है। गाँधी परिवार ने इनकम टैक्स में भी झूठ बोला, इसकी भी जांच की जा रही है। उन्होंने कहा कि क्रिश्चियन मिशेल और एक अन्य आरोपी हस्के के बीच हुए पत्राचार से स्पष्ट हुआ है कि मिशेल की हर गोपनीय फाइलें उन तक पहुँचती थी। उन्होंने कहा कि मिशेल और हस्के के बीच हुए बातचीत के ब्यौरे से पता चलता है कि मिशेल की पहुँच कितनी बड़ी थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी क्रिश्चियन मिशेल जैसे भगौड़ों को बचाने में लगी है जबकि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र सरकार है जो देश से लूटे गए पैसे को बचाने और उसे वापस लाने में लगी है। जब मोदी सरकार अगस्ता वेस्टलैंड के आरोपी मिशेल का प्रत्यर्पण करा कर भारत लाई तो कांग्रेस ने तुरंत आरोपी को बचाने और गाँधी परिवार का राज खुल जाने के डर से वकील भी दे दिया। श्री संजर ने कहा कि कांग्रेस की यूपीए सरकार घोटालों की सरकार थी। जल, थल, नभ, आकाश, पाताल, सब जगह कांग्रेस सरकार ने घोटाले किए। उन्होंने आरोप लगाया कि सोनिया-मनमोहन का राज ऐसा था, जिसमें केवल और केवल देश को लूटने का काम हुआ। भ्रष्टाचार के केस में मां-बेटे जमानत पर हैं। कांग्रेस और सोनिया-राहुल का सच देश की जनता के सामने आ रहा है और देश की जनता कांग्रेस को इसका करारा जवाब देगी।
ऐसा ही चला तो सरकार मुख्यमंत्री चलाएंगे या अलग-अलग गुटों के नेता : शिवराजसिंह चौहान पूर्व मुख्यमंत्री ने जताई आशंका, कैसे चल पाएगी इतनी खींचतान वाली सरकार
27 December 2018
भोपाल। कांग्रेस सरकार के मंत्रियों की शपथ तो हो गई, लेकिन विभाग अब तक तय नहीं हुए हैं। बिना विभाग तय हुए, कैबिनेट की बैठकें हो रही हैं। मंत्री तय हो गए, तो अब विभागों के लिए पार्टी में रस्साकशी और मारकाट मची है। हर नेता कहता है, मेरे मंत्री को ये विभाग चाहिए। इसी खींचतान के चलते अब तक विभाग तय नहीं हो सके। प्रदेश के इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ। यदि ऐसा ही चलता रहा, तो सरकार कौन चलाएगा ? मुख्यमंत्री चलाएंगे या उनके पीछे से अलग-अलग गुटों के नेता ? या फिर वे मंत्री चलाएंगे, जिनकी डोर अलग-अलग नेताओं के हाथ में है। जब इतने सारे लोग सरकार को नियंत्रित करेंगे, तो सरकार कैसे चलेगी ? यह बात गुरुवार को पूर्व मुख्यमंत्री व विधायक श्री शिवराजसिंह चौहान ने मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा के दौरान कही। उन्होंने कहा कि मंत्रियों को जल्द ही विभाग दिए जाना चाहिए और सरकार को तेजी से काम करना चाहिए।
अलग-अलग गुटों के नेता बना रहे मंत्री पूर्व मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हम चाहते हैं कि प्रदेश में विकास की निरंतरता बनी रहे, कल्याणकारी योजनाएं चालू रहें, कांग्रेस ने जनता को जो वचन दिए हैं, उन्हें निभाया जाए, लेकिन जो चल रहा है, उसे देख मैं चिंतित हूं। पहले उम्मीद थी कि मुख्यमंत्री की शपथ के बाद तत्काल मंत्री तय होंगे और शपथ हो जाएगी, लेकिन मुख्यमंत्री और मंत्रियों की शपथ के बीच में जो अंतराल आया, वह चिंता का विषय है। मंत्री तय करना मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार है, लेकिन इस सरकार में मुख्यमंत्री मंत्री नहीं बना रहे, बल्कि अलग-अलग गुटों के नेता मंत्री बना रहे हैं। सभी का कोटा तय हो गया है, किसके कितने मंत्री होंगे। एंदल सिंह, बिसाहूलाल, के.पी. सिंह जैसे उन लोगों की दुर्गति हो रही है, जो किसी गुट के नहीं हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के विशेषाधिकार पर इस कदर डाका डले कि मंत्री कोई और बनाए, यह चिंता का विषय है।
जो कहा है, वो करना पड़ेगा पूर्व मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किसानों की कर्ज माफी की चर्चा करते हुए कहा कि कांग्रेस ने इसे लेकर अपने वचन पत्र में जो लिखा है, उसका पालन होना चाहिए। कर्ज माफी की राह में कोई बैरियर या छन्ना नहीं लगाना चाहिए। कांग्रेस ने सभी किसानों का दो लाख तक का कर्ज माफ करने की बात कही है, इसमें कोई अगर-मगर नहीं होना चाहिए। सरकार 30 नवंबर तक के सभी किसानों के कर्ज माफ करे। श्री चौहान ने कहा कि यही हमारी मांग भी रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने जो कहा है, उसे वो करना पड़ेगा।
हमारी नजर जनहित के कामों पर श्री चौहान ने कहा कि हमारी नजर इस बात पर है कि जनता के काम हों। विकास एक निरंतर प्रक्रिया है और प्रदेश का विकास बाधित न हो। उन्होंने कहा कि चुनाव परिणाम आने के बाद हमारा मत यही था कि बहुमत हमें नहीं मिला है, हालांकि उनको भी नहीं मिला। लेकिन उनके पास नंबर ज्यादा थे, इसलिए उनकी सरकार बनी। अगर हम ऐसा-वैसा सोचते तो तत्काल सरकार बनाने का दावा ठोंकते। हमारी सदइच्छा है कि सरकार ठीक से चले। उन्होंने सरकार बना ली, लेकिन सरकार ठीक से चलती रहे, इसकी परिस्थितियां बनाना भी तो उनका ही काम है।
किसी के कहने से बंद नहीं होंगी संघ की शाखाएं पूर्व मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उसकी शाखाओं पर पहले स्व. पं. नेहरू जी ने प्रतिबंध लगाया, लेकिन हटाना पड़ा। फिर स्व. इंदिरा जी ने प्रतिबंध लगाया, उसे भी हटाना पड़ा। श्री चौहान ने कहा कि संघ देशभक्त नागरिकों का दुनिया का सबसे बड़ा संगठन है, जो ईमानदार, चरित्रवान, परिश्रमी और देशभक्त नागरिक तैयार करता है। उन्होंने कहा कि किसी के कहने से न संघ का काम रुकेगा न शाखाएं रुकेंगी। मीसाबंदी पेंशन की बात पर श्री चौहान ने कहा कि हम यह चाहते हैं कि सरकार राजनीतिक विद्वेषवश कोई कार्रवाई न करे। मीसाबंदियों ने लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई लड़ी। ये लोग 19 महीने जेल में रहे, उनके परिवार तबाह हो गए। उन्होंने कहा कि बात सिर्फ लोकतंत्र सेनानियों की पेंशन की नहीं है, बल्कि हम यह चाहते हैं कि कोई भी लोक कल्याणकारी योजना बंद न हो।
गुटों के नेता कर रहे विभागों पर खींचतान पूर्व मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कांग्रेस में कितने गुट और कितने नेता हैं, सबको पता है। मंत्रियों को विभागों का आवंटन मुख्यमंत्री को करना चाहिए, लेकिन जवाब दिग्विजयसिंह देते हैं। इससे पता चला जाता है कि मंत्रियों को विभाग कौन बांट रहा है। श्री चौहान ने कहा कि मंत्रियों में ज्योतिरादित्य जी के अलग नाम हैं, दिग्विजय जी के अलग नाम हैं, अरुण यादव जी के तो भाई मंत्री बन गए हैं, सुरेश पचौरी जी का अभी कोई दिख नहीं रहा है। कमलनाथ मंत्रिमंडल में सभी को कैबिनेट मंत्री बनाए जाने पर श्री चौहान ने कहा कि नेताओं के बीच यह झगड़ा मचा होगा कि मेरे आदमी को राज्यमंत्री क्यों, कैबिनेट मंत्री बनाओ। इस झंझट से बचने के लिए मुख्यमंत्री ने सभी को कैबिनेट मंत्री बना दिया। इससे प्रदेश पर आर्थिक बोझ पड़ना तो अलग बता है, मगर ऐसी सरकार चलेगी कैसे?

कांग्रेस नहीं चाहती किसानों, आदिवासियों के जीवन में बदलावः नरेन्द्र सिंह तोमर
23 November 2018
शिवपुरी। कांग्रेस ने 50 सालों तक देश में राज किया, लेकिन आदिवासियों की बेहतरी के लिए कोई काम नहीं किया। कांग्रेस हमेशा चाहती थी आदिवासी एवं किसानों के जीवन में बदलाव न आए, क्योंकि उसे डर था कि यह वर्ग अगर जागरूक हो गया तो उनका वोट बैंक खत्म हो जायेगा। कांग्रेस ने वोट बैंक की खातिर उन्हें पिछड़ापन और दरिद्रता दी। यह बात केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्रसिंह तोमर ने गुरूवार को शिवपुरी जिले के पोहरी विधानसभा के छर्च में पार्टी प्रत्याशी प्रहलाद भारती के समर्थन में जनसभा को संबोधित करते हुए कही। श्री तोमर ने श्योपुर जिले की विजयपुर विधानसभा क्षेत्र के अगरा में पार्टी प्रत्याशी श्री सीताराम आदिवासी के समर्थन में भी सभा को संबोधित कर अधिक से अधिक मतदान करने की अपील की।
लोगों के जागरूक होने से डरती है कांग्रेस छर्च की सभा में श्री तोमर ने कहा कि पिछले 10 सालों में भारतीय जनता पार्टी के विधायक प्रहलाद भारती आपके बीच रहे और उन्होंने जो विकास कार्य कराए आप सबके सामने हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस क्षेत्र के पोहरी, बैराड़, भटनावर, छर्च सहित पूरे क्षेत्र में ईमानदारी से विकास के काम किए हैं। श्री तोमर ने कहा कि कांग्रेस का हमेशा एक सिद्धांत रहा हैं कि जितनी जागरूकता की कमी होगी, उतना ही उन्हें शासन करने में आसानी होगी। लेकिन भारतीय जनता पार्टी कांग्रेस के प्रतिकूल काम करती हैं। हमारा मानना है कि समाज में जागरूकता होगी तो विकास होगा और इसलिए भारतीय जनता पार्टी विकास की पक्षधर है, तो कांग्रेस विनाश की।
जनता पूछे, कांग्रेस ने क्या-क्या काम किए
श्री तोमर ने कहा कि भाजपा सरकार और प्रहलाद भारती के कार्यकाल में इस क्षेत्र में अनेकों काम हुए हैं, जिन्हें गिनाया जा सकता है। लेकिन दिग्विजयसिंह ने 10 साल राज करते हुए भी इस क्षेत्र के लिए कोई विकास नहीं किया। उन्होंने जनता से कहा कि आप लोग कांग्रेस प्रत्याशी से पूछें की कांग्रेस ने इस क्षेत्र के लिए क्या-क्या कार्य किए।
भाजपा ने की सहरिया आदिवासियों की चिंता सभा में बड़ी संख्या में मौजूद सहरिया आदिवासियों को संबोधित करते हुए श्री तोमर ने कहा कि सहरिया आदिवासियों के लिए 50 सालों में कांग्रेस जो कांग्रेस नहीं कर पायी, उससे कहीं ज्यादा काम मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने किए हैं। सहरिया आदिवासी बहनें स्वस्थ बच्चों को जन्म दें, इसके लिए उनके खाते में पोषण आहार के लिए मध्यप्रदेश सरकार एक-एक हजार रूपए देने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने आदिवासियों के हितों का संरक्षण किया और सहरिया लोगों का सम्मान बढाने के लिए विजयपुर से सीताराम आदिवासी को प्रत्याशी बनाया है। श्री तोमर ने जनता से अपील करते हुए कहा कि सीताराम आदिवासी इस क्षेत्र से विजयी होंगे तो सहरिया समाज का मान सम्मान बढ़ेगा और उनकी आवाज और बुलंद होगी। छर्च में आयोजित सभा के दौरान अशोक खण्डेलवाल, नरोत्तम रावत, हरनारायण कुशवाह, डॉ. हरिशंकर धाकड़, जगदीश रावत, मुरारीलाल धाकड़ आदि उपस्थित थे।

यहां कांग्रेस में अध्यक्ष नहीं बन सकते एक परिवार के बाहर के लोगः रविशंकर प्रसाद केंद्रीय मंत्री ने कहा-कांग्रेस में नहीं रहा आंतरिक लोकतंत्र
23 November 2018
भोपाल। कांग्रेस में आंतरिक लोकतंत्र नहीं है। इस पार्टी में गांधी परिवार के बाहर का कोई व्यक्ति अध्यक्ष नहीं बन सकता। जब-जब भी इस परिवार से बाहर का कोई व्यक्ति अध्यक्ष बना है, तो इस परिवार के लोगों ने और पार्टी में उनके भक्तों ने उन्हें बर्दाश्त नहीं किया है। यह बात भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री श्री रविशंकर प्रसाद ने मंगलवार को मीडिया से चर्चा करते हुए कही।
गांधी परिवार के लोग या वफादार ही बनते हैं अध्यक्ष केंद्रीय मंत्री श्री रविशंकर प्रसाद ने मंगलवार को राजधानी भोपाल में पत्रकार वार्ता को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व. पी.वी.नरसिम्हाराव के मीडिया एडवायजर रहे संजय बारू ने एक पुस्तक लिखी है, जिसमें कांग्रेस में नेहरू-गांधी परिवार के हस्तक्षेप के बारे में विस्तार से लिखा गया है। पुस्तक का हवाला देते हुए श्री प्रसाद ने कहा कि 1977 में जब इंदिरा जी चुनाव हारी, तब देवकांत बरुआ कांग्रेस के अध्यक्ष थे। वे इस परिवार के भक्त थे और कहते थे ‘इंडिया इज इंदिरा और इंदिरा इज इंडिया’। उनके बाद वामनदेव रेड्डी पार्टी के अध्यक्ष बने। लेकिन स्व. इंदिरा गांधी उन्हें पचा नहीं पाई। उन्होंने मूल कांग्रेस से अलग होकर इंदिरा कांग्रेस बनाई। स्व. इंदिरा जी के निधन के बाद उनके बेटे राजीव गांधी कांग्रेस अध्यक्ष रहे। स्व. राजीव जी हत्या के बाद पी.वी.नरसिम्हाराव कांग्रेस अध्यक्ष बने और बाद में प्रधानमंत्री भी बने। लेकिन उनके पूरे कार्यकाल के दौरान श्रीमती सोनिया गांधी पर्दे के पीछे से उन्हें और कांग्रेस को चलाना चाहती थीं। उनके बाद स्व. सीताराम केसरी अध्यक्ष बने। उनके बाद 19 साल श्रीमती सोनिया गांधी अध्यक्ष रहीं और अब राहुल गांधी पार्टी के अध्यक्ष हैं।
बाहरी लोगों को बर्दाश्त नहीं करता गांधी परिवार और भक्त श्री प्रसाद ने कहा कि जब-जब भी गांधी परिवार के बाहर का कोई व्यक्ति पार्टी अध्यक्ष बना है और खासकर ऐसा व्यक्ति जो गांधी परिवार के इशारों पर न चले, तो गांधी परिवार के लोग और कांग्रेस में उनके भक्त उसे बर्दाश्त नहीं कर पाते। स्व. पी.वी.नरसिम्हाराव और स्व. सीताराम केसरी इसके उदाहरण हैं। स्व. पी.वी. नरसिम्हाराव के निधन के बाद उनके शव को कांग्रेस कार्यालय में नहीं रखा गया। यही नहीं, बल्कि स्व. नरसिम्हाराव ऐसे पहले पूर्व प्रधानमंत्री हैं, जिनका अंतिम संस्कार देश की राजधानी दिल्ली में नहीं किया गया। स्व. सीताराम केसरी से तो और भी खराब व्यवहार किया गया। स्व. केसरी इंकार करते रहे, लेकिन पार्टी ने जबरन उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया। यही नहीं, उन्हें सरकारी बंगले से भी हाथ पकड़कर बाहर निकाला गया। ये घटनाएं बताती हैं कि गांधी परिवार के लोग परिवार के बाहर के किसी भी व्यक्ति को पार्टी में शीर्ष पर नहीं देखना चाहते।
भाजपा में सामान्य कार्यकर्ता भी पहुंच सकता है शीर्ष पर श्री प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस के विपरीत भारतीय जनता पार्टी पूरी तरह लोकतांत्रिक पार्टी है और इसमें कोई भी योग्य कार्यकर्ता शिखर तक पहुंच सकता है। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी कार्यकर्ता के रूप में ही पार्टी में शामिल हुए थे। वर्तमान अध्यक्ष श्री अमित शाह बूथ समिति के अध्यक्ष से आगे बढ़े हैं। उनके अलावा गृहमंत्री श्री राजनाथसिंह, परिवहन मंत्री श्री नितिन गडकरी ने भी पार्टी में अपना कॅरियर सामान्य कार्यकर्ता के रूप में ही शुरू किया था।
नोटबंदी से बढ़ा टैक्स कलेक्शन श्री प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी चुनाव में नोटबंदी और जीएसटी का मुद्दा उठा रहे हैं, लेकिन वे लोगों को भ्रमित करने का काम कर रहे हैं। वास्तव में मोदी सरकार के इन दोनों ही कदमों से देश की अर्थव्यवस्था को दीर्घकालीन लाभ हुए हैं। श्री प्रसाद ने कहा कि नोटबंदी के बाद देश में 2 लाख 24 हजार फर्जी कंपनियां पकड़ी गईं। इन कंपनियों के खातों में एक सप्ताह में ही 4 हजार करोड़ से अधिक की राशि जमा हुई। श्री प्रसाद ने आंकड़ों के आधार पर बताया कि वर्ष 20013-14 में देश में 3.82 करोड़ लोग इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते थे, जिनकी संख्या नोटबंदी के बाद वर्ष 2017-18 में दोगुनी होकर 6.86 करोड़ हो गई। इसी तरह वर्ष 2013-14 में इनकम टैक्स के रूप में आय 6 लाख 38 हजार करोड़ थी, जो 2017-18 में बढ़कर लगभग 10 लाख करोड़ हो गई। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के फलस्वरूप ही भारत आज दुनिया की सबसे तेज बढ़ती अर्थव्यव्स्था वाला देश है और हमारी अर्थव्यवस्था दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गई है।
आईटी में तरक्की कर रहा मध्यप्रदेश श्री प्रसाद ने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान की तारीफ करते हुए कहा कि उनके नेतृत्व में एक बीमारू प्रदेश अब विकसित राज्य बन गया है। आईटी के क्षेत्र में प्रदेश में हो रहे विकास की चर्चा करते हुए श्री प्रसाद ने बताया कि प्रदेश एक आईटी हब के रूप में विकसित हो रहा है। उन्होंने बताया कि ग्वालियर और इंदौर के बाद अब प्रदेश में तीन और सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पॉर्क बन रहे हैं। इनमें से एक राजधानी भोपाल में, एक जबलपुर में और छिंदवाड़ा में बन रहा है। प्रदेश के ग्वालियर, सागर, विदिशा और रायसेन जैसे शहरों में बीपीओ शुरू होने वाले हैं। इनके अलावा राजधानी भोपाल में एक विश्व स्तरीय नेशनल डाटा सेंटर भी बन रहा है।

आपसी भाईचारे को तोड़ना चाहते हैं कांग्रेस के नेताः स्मृति ईरानी
23 November 2018
बुरहानपुर/बड़वाह। कांग्रेस के एक नेता मुस्लिम भाइयों के बीच बैठकर कहते हैं कि हम हिन्दुओं से निपट लेंगे। आप सिर्फ हमारे साथ हो जाइए। कांग्रेस के नेता शायद यह नहीं जानते कि हिन्दुस्तान में जब एक भाई दूसरे भाई से गले मिलता है, तो वह जाति और धर्म नहीं पूछता। चिंता की घड़ी में कंधे से कंधा मिलाकर उसके साथ खड़ा रहता है और उसकी खुशियों में परिवार का हिस्सा बनकर शरीक होता है। कांग्रेस के नेता भाईचारे के दूध को बांटने का काम करना चाहते हैं। कांग्रेस कौम को कौम से न लड़ा पाए इसलिए 28 नवम्बर को कमल का बटन दबाकर भाजपा को वोट दें। यह बात केंद्रीय मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी ने गुरूवार को बुरहानपुर में पार्टी प्रत्याशी श्रीमती अर्चना चिटनीस एवं बड़वाह में श्री हितेंद्र सिंह के समर्थन में आयोजित जनसभा में कही।
जो अपना घर न संभाल सके, जनता का घर कैसे संभालेंगे केंद्रीय मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी ने बुरहानपुर में श्रीमती अर्चना चिटनीस के समर्थन में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि बुरहानपुर में कांग्रेस पार्टी में ही बगावत के बीज बोये जा चुके हैं। जो अपना घर न संभाल पाएं, वो जनता का घर क्या खाक संभाल पाएंगे। उन्होंने कहा कि दीदी अर्चना चिटनीस ने बुरहानपुर में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के आशीर्वाद से गरीबों को 23 हजार घरों की सौगात दी है। एक गरीब को घर की सौगात वहीं पार्टी दे सकती है, जिसके नेतृत्व ने गरीबी देखी हो और सामान्य परिवार में जन्म लिया हो। यह संकल्प और प्रतिबद्धता वही पार्टी दिखा सकती है।
कांग्रेस बताए उनके यहां ‘कमल’ खिलेगा या ‘ज्योति’ दमकेगी श्रीमती स्मृति ईरानी ने कांग्रेस द्वारा नेता घोषित न किए जाने पर तंज कसते हुए कहा कि इस पार्टी में इतनी हिम्मत नहीं है कि मुख्यमंत्री पद के दावेदार का नाम गिना दे। वह विकास क्या खाक करेंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस इतना ही बता दे कि उनके वहां ‘कमल’ (कमलनाथ) खिल रहा है या ‘ज्योति’ (ज्योतरादित्य सिंधिया) दमकेगी। उन्होंने जनता से कहा कि ऐसी कांग्रेस से क्या उम्मीद की जा सकती है, जो अपने ही खेमे में नेतृत्व का निर्णय नहीं कर सकती। उन्होंने जनता से अपील करते हुए कहा कि जो विकास के पथ पर आपको ले जा रहे हैं, उनका हमसफर बनकर 28 नवम्बर को भारतीय जनता पार्टी को वोट दें।
हम सींचतें हैं, उनके जीजा हड़पते हैं किसानों के खेत श्रीमती स्मृति ईरानी ने सभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर भी जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि दीदी अर्चना चिटनीस ने बुरहानपुर में प्रेम और निष्ठा के साथ विकास विकास के काम किए हैं। उन्होंने क्षेत्र में हुए विकास कार्यों की चर्चा करते हुए कहा कि हम गरीबों के खेतों को सींचते हैं, लेकिन उनके यहां, कांग्रेस में उनके (राहुल गांधी के) जीजा किसानों की जमीन को हड़पते हैं। श्रीमती ईरानी ने कहा कि जो जनता के सपनों को सींचती है, ऐसी भारतीय जनता पार्टी को विजयी बनाने के लिए आगे आएं और अपना आशीर्वाद देकर उसे जिताएं। सभा को पूर्व प्रदेश अध्यक्ष श्री नंदकुमार सिंह चौहान एवं पार्टी प्रत्याशी श्रीमती अर्चना चिटनीस ने भी संबोधित किया।
मध्यप्रदेश में झूठ का पिटारा लेकर घूम रहे कांग्रेस के युवराज श्रीमती ईरानी ने कहा कि 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के युवराज को मैंने अमेठी में चुनौती दी। राहुल गांधी को देश और मध्यप्रदेश में विकास दिखाई नहीं देता, उन्हें अमेठी में ही देख लेना चाहिए कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने वहां पर 22 हजार मकानों की सौगात दी है। सरकार की विभिन्न योजनाओं के 2 लाख से अधिक हितग्राही वहां पर हैं। श्रीमती ईरानी ने कहा कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस के युवराज झूठ का पिटारा लेकर घूम रहे हैं, तो उनके नेता सांप्रदायिकता फैलाने की बात कर रहे हैं। लेकिन मध्यप्रदेश की जनता ने सांप्रदायिकता के जहर को पीने से इंकार कर दिया है। उन्होंने सभा में उपस्थित जनता से आग्रह करते हुए कहा कि आपका वोट मुख्यमंत्री या विधायक के लिए नहीं, बल्कि आपका वोट सशक्त और सुरक्षित मध्यप्रदेश के लिए है। उन्होंने कहा कि बुरहानपुर में शांति और सौहार्द कायम रखने का काम वर्षों से अर्चना दीदी करती आ रहीं हैं। कांग्रेस के कुछ लोग इसे बिगाड़ने का प्रयास करेंगे, लेकिन बुरहानपुर की जनता ऐसे लोगों को हराकर बीजेपी को जिताएगी।
शिवराज सरकार बनी, तो बंद हो गई कांग्रेस की मोमबत्ती श्रीमती स्मृति ईरानी ने खरगोन जिले के बड़वाह में सभा को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश में जब से शिवराज जी की सरकार बनी है, कांग्रेस की मोमबत्ती बुझ गई है। हर घर में विकास का उजाला आया है। उन्होंने कहा कि जो प्रदेश को अंधेरे से निकालकर रोशनी में ले गया, उसे अपना आशीर्वाद दें। 28 तारीख को अपने घरों से बाहर निकलें, कमल का बटन दबाएं और शिवराज जी की सरकार फिर से बनाने के लिए स्थानीय प्रत्याशी भाई हितेंद्र सिंह को अपना आशीर्वाद दें।
भाजपा सरकार ने किया हर वर्ग का विकास श्रीमती ईरानी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि सभा में नौजवानों का तांता लगा है। इन्हें देखकर यह बात याद आती है कि प्रदेश की भाजपा सरकार ने युवा उद्यमी योजना और अन्य योजनाओं के तहत 7490 करोड़ रुपए प्रदेश के साढ़े तीन लाख युवाओं को दिये हैं। अब ये युवा कहते हैं हम जाएंगे पोलिंग बूथ पर और शिवराजसिंह को फिर मुख्यमंत्री बनाएंगे। उन्होंने कहा कि कुछ बेटियां और बहनें मेरे पास आईं और ऑटोग्राफ मांगे। मैंने कहा कि आपको ऑटोग्राफ लेना है, तो शिवराज मामा के ऑटोग्राफ लो, जिन्होंने प्रदेश की 27 लाख बेटियों को लाड़ली लक्ष्मी बनाया है। उन्होंने कहा कि इन लक्ष्मियों को, बेटियों को अगर कोई संगठन पूजता है, तो वह भाजपा ही है।

शिवराज जी ने 15 वर्षों में मध्यप्रदेश को देश का सिरमौर राज्य बनाया : हेमा मालिनी
23 November 2018
भोपाल। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने देश को और मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने जिस तरह मध्यप्रदेश में विकास कार्यों को गति दी है, उसी तरह हजारों बहनों के भाई श्री विश्वास सारंग ने नरेला क्षेत्र में विकास के काम किए हैं। मध्यप्रदेश 2003 के पूर्व बीमारू राज्य कहलाता था। जिसे मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अथक प्रयासों से 15 वर्षों में विकास के मामलें में देश का सिरमौर राज्य बनाया है। ये बात सिने स्टार और भाजपा सांसद श्रीमती हेमा मालिनी ने नरेला विधानसभा के अन्ना नगर चौराहे पर मंगलवार शाम को जनसभा संबोधित करते हुए कही। श्रीमती हेमा मालिनी ने कहा कि विश्वास सारंग ने नरेला के घर घर में जिस तरह माँ नर्मदा का जल पहुँचाया है, वो बात मुझे भी सीखना है। मैं भी अपने क्षेत्र में ऐसा करना चाहती हूँ और इसमें मैं श्री विश्वास सारंग की मदद लूंगी। उन्होंने तमिल और मराठी भाषा में भी अन्ना नगर के निवासियों से अनुरोध किया कि वे विश्वास सारंग के लिए वोट दें। श्री विश्वास सारंग ने कहा कि मैं सौभाग्यशाली हूं पिछले विधानसभा चुनाव में भी हेमा जी ने मेरे लिए इसी जगह सभा को संबोधित किया था और खेड़ापति बब्बा, मकदूम शाह बाबा की कृपा से मैं विधायक बना। आज भी यहां बड़ी संख्या में लोग स्टार प्रचारक हेमा जी को सुनने पहुंचे हैं। आप सभी 28 तारीख को मतदान करने जरूर जाएं और नरेला में फिर से कमल खिलाएं। दिग्विजय सिंह पर निगरानी रखे चुनाव आयोग भाजपा ने की मांग भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने चुनाव आयोग से कांग्रेस नेता दिग्विजयसिंह पर निगरानी पर रखे जाने की मांग की है। पार्टी ने इस संबंध में एक पत्र मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को सौंपा है। भाजपा की निर्वाचन आयोग संबंधी समिति के अध्यक्ष श्री शांतिलाल लोढ़ा ने पत्र में कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह के संबंध में एक वेबसाइट पर समाचार प्रकाशित किया गया है, जिसमें भीमा-कोरेगांव हिंसा के मामले में गिरफ्तार किए गए लोगों के पास से बरामद पत्र में श्री दिग्विजयसिंह का फोन नंबर मिलने की बात कही गई है। इस संबंध में पुणे पुलिस श्री दिग्विजयसिंह से पूछताछ भी कर सकती है। पत्र में कहा गया है कि इस खुलासे से दिग्विजयसिंह संदेह के घेरे में आ गए हैं इसलिए उन पर निगरानी रखी जानी चाहिए, ताकि वे निर्वाचन प्रक्रिया में किसी तरह का व्यवधान पैदा न कर सकें। पत्र के साथ वेबसाइट की लिंक भी भेजी गई है। कर्मचारियों का मनोबल तोड़ रहे कमलनाथ, भाजपा ने की शिकायत भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ द्वारा निर्वाचन कार्य में लगे कर्मचारियों का मनोबल तोड़ने वाला वक्तव्य दिये जाने की शिकायत निर्वाचन आयोग से की है। पार्टी द्वारा सौंपे गए शिकायती पत्र के साथ एक समाचार पत्र की कटिंग भी दी गई है। भाजपा की निर्वाचन आयोग संबंधी समिति के अध्यक्ष श्री शांतिलाल लोढा द्वारा की गई शिकायत में कहा गया है कि कांग्रेस नेता कमलनाथ ने बुधनी में सभा को संबोधित करते हुए कर्मचारियों पर गुप्त रूप से भाजपा के लिए काम करने का आरोप लगाया था। इसके साथ ही कांग्रेस की सरकार बनने पर परिणाम झेलने की चेतावनी भी दी। पत्र में कहा गया है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के इस वक्तव्य से उन कर्मचारियों का मनोबल टूट सकता है, जो निर्वाचन कार्य में लगे हैं। अतः आयोग द्वारा इस संबंध में एक विज्ञप्ति जारी की जानी चाहिए, ताकि निर्वाचन कार्य लगे कर्मचारियों का मनोबल बना रहे। भाजपा ने की शिकायत खारिज किए जाने की मांग भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से पार्टी के खिलाफ की गई एक शिकायत को खारिज किए जाने की मांग की है। पार्टी का तर्क है कि यह शिकायत एक अनधिकृत व्यक्ति द्वारा की गई है। भाजपा की चुनाव आयोग संबंधी समिति के अध्यक्ष शांतिलाल लोढ़ा ने शिकायत को खारिज किए जाने की मांग करते हुए कहा है कि जिस पुलकित गोधा नामक व्यक्ति द्वारा यह शिकायत की गई है, वह कांग्रेस पार्टी या उसके नेता अजयसिंह की ओर से शिकायत करने के लिए अधिकृत नहीं है। पत्र में कहा गया है कि पुलकित गोधा कांग्रेस पार्टी के प्राथमिक सदस्य भी नहीं है। इसलिए शिकायत खारिज की जाए। मतदाताओं को पैसे बांटने पर कार्रवाई करे आयोगः भाजपा भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने सागर जिले के खुरई में जिला पिछड़ा वर्ग संगठन के उपाध्यक्ष चंद्रभान पटेल द्वारा मतदाताओं को कांग्रेस के पक्ष में वोट दिए जाने के लिए पैसे बांटने के मामले में निर्वाचन आयोग से कार्रवाई की मांग की है। पार्टी के चुनाव आयोग संबंधी समिति के अध्यक्ष श्री शांतिलाल लोढ़ा ने आयोग को पत्र लिखकर बताया है कि खुरई में चंद्रभान पटेल द्वारा मतदाताओं को कांग्रेस प्रत्याशी को वोट देने के लिए पैसे दिए जा रहे हैं और वे पैसे देते हुए कैमरे में रिकॉर्ड भी हुए हैं। इस संबंध में पार्टी की खुरई यूनिट ने निर्वाचन अधिकारी से कैमरे की रिकॉर्डिंग के साथ शिकायत की थी, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। आयोग से इस मामले में कांग्रेस के गैरकानूनी हथकंडों के लिए उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की गई है। कांग्रेस का प्रचार कर रहे कर्मचारियों पर कार्रवाई की मांग भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस के पक्ष में प्रचार कर रहे सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग निर्वाचन आयोग से की है। ये कर्मचारी सागर जिले के खुरई में कांग्रेस का प्रचार करते पाए गए हैं। पार्टी की निर्वाचन आयोग संबंधी समिति के अध्यक्ष श्री शांतिलाल लोढ़ा ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से कांग्रेस का प्रचार कर रहे सरकार कर्मचारियों पर कार्रवाई की मांग की है। श्री लोढ़ा ने पत्र के साथ खुरई के निर्वाचन अधिकारी को की गई शिकायत की प्रति भी संलग्न की है। पत्र के साथ दोषी कर्मचारियों की सूची देते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई है। मुख्यमंत्री की छवि बिगाड़ने का प्रयास कर रही कांग्रेस भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस द्वारा मुख्यमंत्री शिवराजसिंह की छवि खराब करने के लिए सोशल मीडिया पर पोस्टर प्रसारित किए जाने की शिकायत मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से की है। चुनाव आयोग संबंधी समिति के अध्यक्ष श्री शांतिलाल लोढ़ा द्वारा की गई शिकायत में कहा गया है कि कांग्रेस द्वारा इंस्टग्राम और अन्य सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री के पोस्टर प्रसारित किए जा रहे हैं, जिनमें मुख्यमंत्री पर बिना किसी साक्ष्य के निराधार आरोप लगाए जा रहे हैं। पत्र में कहा गया है कि यदि इसके लिए आयोग द्वारा कांग्रेस को अनुमति दी गई है, तो उसे तत्काल वापस लिया जाए। यदि कांग्रेस निर्वाचन आयोग की अनुमति के बिना यह दुष्प्रचार कर रही है, तो उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए।
कांग्रेस के जमाने में ‘मिस्टर 10 परसेंट’ कहलाते थे मंत्रीः शिवराजसिंह चौहान
23 November 2018
हरदा/होशंगाबाद/रायसेन। कांग्रेस की सरकारों में कितने घपले-घोटाले हुए हैं। चाहे केंद्र हो या प्रदेश, इन्होंने हर जगह घोटाले ही घोटाले किए हैं। कांग्रेस के शासन के समय मंत्री मिस्टर 10 परसेंट कहलाते थे। यह बात मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने चुनावी सभाओं को संबोधित करते हुए कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि कर्जे का बोझ किसी भी किसान के सीने पर नहीं रहने देंगे। भाजपा सरकार ने समाधान ऋण योजना शुरू की थी। इसके माध्यम से हमने किसानों के कर्जे माफ किए थे। हम किसी भी किसान को परेशान नहीं रहने देंगे। अब तक खूब दिया है और आगे भी देते रहेंगे। मुख्यमंत्री गुरुवार को हरदा जिले की विधानसभा टिमरनी के रहटगांव में पार्टी प्रत्याशी संजय शाह, होशंगाबाद जिले की विधानसभा सिवनी-मालवा में प्रत्याशी प्रेमशंकर वर्मा, होशंगाबाद जिले की विधानसभा सोहागपुर में विजयपाल सिंह और रायसेन जिले की भोजपुर विधानसभा के बाड़ी में पार्टी प्रत्याशी सुरेंद्र पटवा के समर्थन में आयोजित सभाओं को संबोधित कर रहे थे। कांग्रेस बर्बाद करने वाली पार्टी, उसके भ्रमजाल में न फसें सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के लोगों ने मध्यप्रदेश को बर्बाद करने का काम किया है। इनकी सरकार ने मध्यप्रदेश में 54 वर्षों तक शासन किया है। इनके शासन में मध्यप्रदेश की सड़कों की क्या स्थिति थी। गड्ढों में सड़कें थीं। उनके जमाने में बिजली नहीं आती थी। कांग्रेस की सरकार में साढ़े सात लाख हेक्टेयर जमीन पर ही सिंचाई होती थी, लेकिन भाजपा सरकार ने 41 लाख हेक्टेयर जमीन पर सिंचाई करने की व्यवस्था की है। कांग्रेस आजकल भ्रम फैलाने का काम कर रही है। वे कह रहे हैं कि हम ये कर देंगे, वो कर देंगे, लेकिन करना कुछ नहीं है सिवाय बातों के। मुख्यमंत्री कहा कि इन्होंने पंजाब और कर्नाटक में किसानों से वादा किया था कि सरकार बनते ही किसानों का कर्जा माफ करेंगे, लेकिन अब तक माफ नहीं हुआ है। अब मध्यप्रदेश के किसानों से भी वादा कर रहे हैं कि सरकार आते ही 10 दिनों में कर्जा माफ कर देंगे, लेकिन इनके भ्रमजाल में फंसना नहीं है। जनता का साथ क्या निभाएंगे कांग्रेस के परदेशी नेता मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के नेता तो परदेशी हैं। कमलनाथ कलकत्ता से आकर यहां बस गए, कभी-कभार छिंदवाड़ा आ जाते हैं और बाकी समय दिल्ली में रहते हैं। इनको क्या पता कि मध्यप्रदेश के किसानों की क्या समस्याएं हैं। राहुल बाबा ज्यादातर समय विदेश में रहते हैं और जब दिल्ली में रहते हैं तो वहां से आकर प्रदेश के किसानों की बातें करते हैं। उनको तो यह भी पता नहीं कि प्याज कहां उगती है। वे क्या मध्यप्रदेश के किसानों की समस्याओं को समाप्त करेंगे। ये तो परदेशी हैं ये साथ क्या निभाएंगे। ये नर्मदा किनारे वाला कब जाएगा मुख्यमंत्री ने कहा कि आजकल कांग्रेस के नेताओं को गुस्सा आ रहा है। उन्हें सबसे ज्यादा गुस्सा शिवराजसिंह चौहान पर आ रहा है। उन्हें लग रहा है कि ये नर्मदा किनारे वाला मुख्यमंत्री बन गया है और न जाने कब यहां से जाएगा। उन्हें गुस्सा इसलिए भी आ रहा है कि 15 वर्षों से कुर्सी से दूर हैं। उन्हें रात में कुर्सी नजर आ रही है। करवटें बदलते रहते हैं कुर्सी के लिए। उन्होंने कहा कि सोता तो मैं भी नहीं हूं, लेकिन मैं जनता की सेवा के लिए नहीं सोता हूं, लेकिन उन्हें नींद मेरे कारण नहीं आ रही है। महिलाओं को सजावट की वस्तु बताते हैं कमलनाथ मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के नेता कमलनाथ महिलाओं को सजावट की वस्तु कहते हैं। हम महिलाओं के सम्मान की बात करते हैं, लेकिन कांग्रेस महिलाओं का अपमान कर रही है। हम महिलाओं के सशक्तीकरण की बातें कर रहे हैं, उन्हें सशक्त बनाने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं, लेकिन वे महिलाओं का अपमान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में महिलाओं का अपमान किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अखंड भ्रष्टाचार में डूबे हैं कांग्रेस मुख्यमंत्री ने सभाओं के दौरान कांग्रेस पर जमकर प्रहार किए। उन्होंने कहा कि चाहे मध्यप्रदेश हो या देश, जब इनका शासन था तो अखंड भ्रष्टाचार में डूबी थी कांग्रेस। जमीन, आसमान में घोटाले ही घोटाले थे। टूजी, थ्रीजी, जीजाजी, कोयला घोटाला और न जाने कितने घोटाले किए हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश को भी कांग्रेस की सरकार ने बर्बाद कर दिया था, लेकिन हमने 15 सालों में इसे फिर आबाद करने का काम किया है। हर वर्ग हमारी प्राथमिकता में मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी प्राथमिकता हर वर्ग का विकास करने की है। चाहे मेरे भांजे-भांजियां हों, किसान हों, गरीब हों सबको समृद्ध बनाना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता में है। उन्होंने कहा कि अब हम बेटियों को 12 वीं में 75 प्रतिशत अंक लाने पर स्कूटी देंगे, जिससे वे कॉलेज जा सकेंगी। सभा के दौरान सांसद उदयप्रताप सिंह, चौधरी माधव सिंह, यशवंत सिंह, अशोक सिंह, जालम सिंह, हेमराज जी, माया नरोलिया, विजयपाल सिंह सहित बड़ी संख्या में आमजन मौजूद रहे।
प्रदेश का मतदाता इस बार ठगाने वाला नहीं, झूठ, छलावे में आने वाला नहीं: कमलनाथ
19 November 2018
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने आज सागर जिले की रहली और खुरई, विदिशा जिले की पठारी (कुरवाई) तथा सीहोर जिले के पिपलानी में चुनावी जनसभाओं को संबोधित किया। इस अवसर पर विधानसभा के कांग्रेस प्रत्याशीगण, स्थानीय कांग्रेस पदाधिकारी और ग्रामीण इलाकों के हजारों किसान, गांव वाले कमलनाथ जी को सुनने उमड़ पड़े थे। कमलनाथ ने चारों सभाओं में शिवराज सरकार पर घोटालों, भ्रष्टाचार, किसानों, युवाओं, महिलाओं आदि पर केंद्रित मुद्दों पर जमकर हमला किया। उनके द्वारा भाषण में दिये गये कुछ खास बिंदु इस प्रकार हैं:-
ऽ प्रदेश मंे कोई भी माफिया हो, वाहे वह रेत माफिया, शराब माफिया या सट्टे का माफिया हो, सभी का नेतृत्व भाजपा के नेता करते हैं।
ऽ व्यापमं कांड में जिन्होंने घूस दी वे जेल में हैं और जिन्होंने घूस ली वे शिवराज के राज में बाहर मजे कर रहे हैं।
ऽ मुख्यमंत्री शिवराजसिंह अपने आप को मामा कहते हैं। वे कैसे मामा हैं कि मध्यप्रदेश को बलात्कार में नंबर वन बना दिया है।
ऽ सबसे ज्यादा योजनाऐं महिलाओं के लिए यूपीए की अध्यक्ष सोनिया गांधी की पहल पर बनायी गयीं और शिवराजसिंह ने अपनी फोटो लगाकर उसमें वाहवाही लूट ली।
ऽ भ्रष्टाचार की एक नई व्यवस्था शिवराज के राज में प्रदेश में बनायी गई। किसान मंडी में बेचे गये अपने अनाज का पैसा लेने जब बैंक जाता है तो बैंक कहता है कि हमारे पास नगद नहीं हैं, तब मजबूरी में किसान को कहना पड़ता है कि मैं आपको पैसे देता हूं हमारी रकम निकाल दो।
मुझे याद है जब कांग्रेस की सरकार थी तो किसान कहते थे कि समर्थन मूल्य बढ़वा दो और आज कहते हैं दिलवा दो। बड़े जोर शोर से कहा था कि फसल बीमा की राशि मिलेगी, लेकिन यह राशि किसानों को न मिलकर तेरह हजार करोड़ का फायदा बीमा कंपनियों को करा दिया और किसान तरसता रहा।
ऽ आपको मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने पर ऐसे जनप्रतिनिधि मिलेंगे जो जो नौजवानांे के रोजगार का प्रबंध करेंगे। वह किसानों और माताओं-बहनांे के साथ खडे़ मिलंेगे।
ऽ नौजवानों से आग्रह है कि गांव-गांव जाओ, गली-गली जाओ, सात दिन बचे हैं, कहीं चूक मत जाना, आप लोगों ने ठान लिया तो आगामी 11 तारीख को कांग्रेस का झंडा मध्यप्रदेश की विधानसभा पर लहरायेगा।
ऽ पन्द्रह साल आपने झूठ और लूट की सरकार को देखा। आज के नौजवानों मंे एक अच्छे व्यवसाय और रोजगार के अवसर प्राप्त करने की तड़प है। उनके साथ भी बहुत बड़ा धोखा हुआ है।
ऽ कितने नारे दिये थे। मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया, स्टार्ट अप इंडिया, डिजिटल इंडिया। मैं पूछना चाहता हूं कि कोई है यहां पर स्किल इंडिया, स्टार्टअप इंडिया वाला? कितना बड़ा धोखा दिया है, हमारे नौजवानों को।
ऽ शिवराजसिंह कम कलाकार नहीं हैं। इंदौर में हर साल इन्वेस्टर्स मीट कराते हैं। कहते हैं लाखों करोड़ का निवेश आने वाला है। सच्चाई तो यह है कि जितने उद्योग लगते नहीं, उतने बंद हो जाते हैं।
ऽ किसान छोटा हो या बड़ा, उनका अपना मान-सम्मान होता है। कितना अपमान किया है शिवराज ने किसानों का। पूरे विश्व मंे सबसे ज्यादा आत्महत्या किसानांे की मध्यप्रदेश मंे होती हैं।
ऽ मोदी जी कल छिंदवाड़ा आये थे। आपने अखबारों में पढ़ा होगा, बड़ी-बड़ी बातें करके गये हैं। किसानों, नौजवानों की बातें नहीं की। राहुल गांधी जी की बातें करके गये। मोदी जी नौजवानों के लिये, किसानों के लिये कोई घोषणा करके जाते।
ऽ मोदी जी, सोनिया जी और राहुल जी की बात करते हैं। मैं तो उनसे कहना चाहता हूं कि सोनिया जी और राहुल जी की बातें छोड़िए। आप अपनी कुर्सी की चिंता करें, आपकी कुर्सी जाने वाली है।
ऽ शिवराज ने प्रदेेश के हर वर्ग को ठगा है। मध्यप्रदेश का मतदाता सरल स्वभाव का है। सब कुछ स्वीकार कर लेंगे, लेकिन इनके साथ कोई ठगी करे, यह स्वीकार नहीं करेंगे।
ऽ हमने वचन-पत्र में साफ-साफ लिखा है कि किसानों का कर्जा माफ करेंगे, बिजली का बिल हाफ करेंगे। भाजपा साफ करेंगे।
ऽ मुख्यमंत्री बड़े गो-सेवक बनते हैं। मुझे वो मंज़र भी याद है जो मैंने देवास में देखा कि गो-माता की कितनी दयनीय स्थिति हो रही है। आप सब मिलकर यदि कांग्रेस के नेताओं को वोट देते हैं तो कांग्रेस की संस्कृति को वोट देते हैं। वह संस्कृति जो तोड़ने वाली नहीं, जोड़ने वाली है। ऽ पठारी को नगर परिषद का दर्जा दिया जायेगा। शासकीय महाविद्यालय के लिए भी आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है।
ऽ अभी मैं मोदी जी की बात सुन रहा था कि पुलिस में कितनी भर्तियां हुईं। अन्य शासकीय विभागों में कितना बड़ा धोखा हुआ है। हजारों पद खाली पड़े हैं।
ऽ कमलनाथ की चक्की देर से चलती है पर बहुत बारीक पीसती है, लेकिन भाजपा की नीयत मंे खोट है। ये कहते थे नर्मदा साफ करेंगे, गंगा साफ करेंगे, जिनकी नीयत मंें खोट है, वे क्या नर्मदा और गंगा साफ करेंगे।
ऽ माता बहनों ने थोड़े बहुत जो पैसे बचाकर और छुपाकर रखे थे उसे नोटबंदी करके मोदी ने बाहर निकलवा दिये। छह सौ रूपये का खाता खुलवाया और वह भी बैंकों ने 100 रूपये काटकर 500 का कर दिया।

इंदिरा जी ने शासन करने की अपनी कार्यशैली से पूरे विश्व में पहचान बनायी: बी.के. हरिप्रसाद
19 November 2018
प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में आज पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्रीमती इंदिरा गांधी जी के 101 वें जन्मदिवस के अवसर पर उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया। कार्यालय सभागार में भी उनके चित्र पर माल्यार्पण कर पुष्पांजलि अर्पित की गई। इस अवसर पर कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री बी.के. हरिप्रसाद विशेष रूप से उपस्थित थे। उन्होंने कहा कि इंदिरा जी ने शासन चलाने की अपनी कायशैली से पूरे विश्व में एक पहचान बनायी। श्वेत क्रांति, गरीबी हटाओ, बैंकों का राष्ट्रीयकरण, वनों का राष्ट्रीयकरण, प्रीविपर्स का बंद किया जाना जैसे अनेक ऐसे क्रांतिकारी निर्णय थे जो इंदिरा जी ने लिये। जो कार्यक्रम उन्होंने चलाये, उससे ही भारत देश यहां तक पहुंचा है। श्री हरिप्रसाद ने कहा कि इंदिरा जी एक ऐसी महान नेता थीं, जिनके शासन चलाने की दृढ़शैली को लोग आज भी याद करते हैं। वे अन्य वर्गों के साथ-साथ आदिवासियों के बीच में काफी लोकप्रिय थीं। पाकिस्तान के साथ युद्ध के बाद बांग्लादेश बनाकर उन्होंने पाकिस्तान को सबक सिखाया। देश की एकता और अखण्डता के लिए उन्होंने अपनी जान तक कुर्बान कर दी। आज ऐसी नेता के जन्मदिवस के अवसर पर हम सब यहां एकत्र होकर उनको याद कर रहे हंैं। कांग्रेसजनों ने इस अवसर पर इंदिराजी के पदचिन्हों पर चलते हुए देश की एकता और अखण्डता की शपथ ली। संकल्प लिया कि इस देश में साम्प्रदायिक शक्तियों को पनपने नहीं देंगे। प्रदेश में कांग्रेस की जनहितैषी सरकार बनायेंगे। प्रदेश और देश से साम्प्रदायिक भाजपा को उखाड़ फैंकेंगे। कांग्रेस प्रवक्ता आनंद तारण ने शपथ दिलायी। उपस्थित कांग्रेसजनों ने ‘‘जब तक सूरज चांद रहेगा, इंदिरा तेरा नाम रहेगा’’और ‘इंदिरा गांधी अमर रहें’ के नारे लगाये। इस अवसर पर कांग्रेस उपाध्यक्ष संगठन प्रभारी चंद्रप्रभाष शेखर, प्रकाश जैन, राजीव सिंह, योगेश यादव सहित दीपचंद यादव, कैलाश मिश्रा, शहरयार खान, शाहवर आलम, मुईनउद्दीन, ब्रजभूषण नाथ सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।
हरिद्वार में होगा अटलजी का अस्थि विसर्जन, मध्य प्रदेश में अटल कलशयात्रा निकालने का प्लान
18 August 2018
भोपाल/ग्वालियर।रविवार को अटलजी की अस्थियां हरिद्वार में गंगा में प्रवाहित की जाएंगी। इसके अलावा उत्तर प्रदेश की सभी नदियों में चिता की भस्म का कलश प्रवाहित किया जाएगा। इधर मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में अटल कलशयात्रा निकालने की प्लान तैयार किया जा रहा है। भारतीय जनता पार्टी विधानसभा चुनाव से पहले तीनों प्रदेशों के हर गांव तक अटल स्मृति सभाएं भी करेगी। जिसमें स्थानीय लोगों से अटलजी के संस्मरण सुने जाएंगे। हालांकि पार्टी आलाकमान अमित शाह इस बारे में अंतिम फैसला लेंगे। मध्य प्रदेश के लगभग सभी बड़े नेता अभी दिल्ली में है। रविवार शाम तक सभी के वापस आने की संभावना है। रविवार को ही पार्टी अध्यक्ष अमित शाह स्वयं अस्थि परिजनों के साथ अस्थिकलश लेकर हरिद्वार जाएंगे। इसके बाद तीनों प्रदेशों में कलशयात्रा निकलाने के बारे में उनसे चर्चा की जाएगी। पार्टी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अमित शाह से चर्चा इस बात को लेकर होनी है कि अटल कलश यात्रा मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा के साथ निकली जाए या अलग से। क्योंकि जन आशीर्वाद यात्रा को स्थगित कर दिया गया है। वैसे मध्य प्रदेश में भाजपा इस अटल कलशयात्रा मुख्यमंत्री की यात्रा से अलग निकालना चाहती है। जानकारी के अनुसार एक अस्थिकलश उनके पैतृक गांव बटेश्वर(आगरा) भी ले जाया जाएगा। यहां इसे यमुना में प्रवाहित किया जाएगा। इस अस्थिकलश को अटलजी के भांजे अनूप मिश्रा लेकर पहुंचेगे। इसके बाद एक अन्य कलश ग्वालियर लाया जाएगा। जिले उनके शिंदे की छावनी, कमल सिंह के बाग स्थित पैतृक निवास पर रखा जाएगा। इस कलश को चंबल में प्रवाहित किया जाएगा।
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन
16 August 2018
नई दिल्ली: भारतीय राजनीति के अजातशत्रु कहे जाने वाले बीजेपी नेता और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में गुरुवार को निधन हो गया. वह बीते 11 जून से एम्स में भर्ती थे. वाजपेयी ने गुरुवार शाम 5:05 बजे अंतिम सांस ली. बुधवार को उनकी हालत गंभीर हो गई और उन्हें जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया था. वाजपेयी को गुर्दा (किडनी) की नली में संक्रमण, छाती में जकड़न, मूत्रनली में संक्रमण आदि के बाद 11 जून को एम्स में भर्ती कराया गया था. मधुमेह पीड़ित 93 वर्षीय भाजपा नेता का एक ही गुर्दा काम करता था. वाजपेयी की हालत बिगड़ने पर बुधवार की शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उन्हें देखने के लिए एम्स पहुंचे थे. साथ ही उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू भी गुरुवार को एम्स पहुंचे. उनके अलावा केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु, जितेंद्र सिंह, अश्विनी चौबे, स्मृति ईरानी, शाहनवाज हुसैन, हर्षवर्धन सहित कई बीजेपी नेता अटल बिहारी वाजपेयी के स्वास्थ्य का हाल जानने के लिए एम्स गए थे. अटल बिहारी वाजपेयी ने प्रधानमंत्री के रूप में तीन बार देश का नेतृत्व किया है. वे पहली बार साल 1996 में 16 मई से 1 जून तक, 19 मार्च 1998 से 26 अप्रैल 1999 तक और फिर 13 अक्टूबर 1999 से 22 मई 2004 तक देश के प्रधानमंत्री रहे हैं. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी के कवि, पत्रकार और प्रखर वक्ता भी थे. भारतीय जनसंघ की स्थापना में भी उनकी अहम भूमिका रही. वे 1968 से 1973 तक जनसंघ के अध्यक्ष भी रहे. आजीवन राजनीति में सक्रिय रहे अटल बिहारी वजपेयी लंबे समय तक राष्ट्रधर्म, पाञ्चजन्य और वीर अर्जुन आदि पत्र-पत्रिकाओं के सम्पादन भी करते रहे. वाजपेयी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के समर्पित प्रचारक रहे और इसी निष्ठा के कारण उन्होंने आजीवन अविवाहित रहने का संकल्प लिया था. सर्वोच्च पद पर पहुंचने तक उन्होंने अपने संकल्प को पूरी निष्ठा से निभाया. वाजपेयी देश के उन चंद प्रधानमंत्रियों में से एक थे जिन्हें हमेशा उनके बेबाक फैसलों के लिए जाना जाता था. चाहे बात पाकिस्तान से दोस्ती के लिए बस से लाहौर जाने की हो या फिर कारगिल में लड़ाई के फैसले की. वह हमेशा से ही अपने फैसलों पर अडिग रहने वाले नेता थे. यही वजह थी कि वह देश में सबसे लंबे समय तक गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री भी रहे. अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर 1924 को ग्वालियर में हुआ था. उनके पिता कृष्ण बिहारी वाजपेयी कवि होने के साथ-साथ स्कूल मास्टर भी थे. वाजपेयी जी ने स्कूल तक की शिक्षा ग्वालियर में ही ली थी. इसके बाद आगे की पढ़ाई उन्होंने ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज में की. इसके बाद उन्होंने कानपुर के डीएवी कॉलेज से राजनीति शास्त्र से एमए किया. इस दौरान उन्होंने संघ के कई ट्रेनिंग कैंपों में हिस्सा भी लिया. राजनीति में उनका प्रवेश 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन में हिस्सा लेने के साथ हुआ. इस आंदोलन में हिस्सा लेने की वजह से उन्हें और उनके बड़े भाई प्रेम को 23 दिनों तक जेल में रहना पड़ा. आजादी के बाद वे जनसंघ के नेता बने. देश में आपातकाल का विरोध करने पर उन्हें गिरफ्तार किया गया था. इंदिरा गांधी सरकार के खिलाफ जयप्रकाश नारायण ने सभी विपक्षी दलों के एक साथ आने और एक दल बनाने की अपील की थी. जनसंघ और आरएसएस ने जेपी आंदोलन को पूरा समर्थन दिया. सन 1977 में देश की जनता ने कांग्रेस के खिलाफ जनता पार्टी को बड़े अंतर से चुनाव में जीत दिलाई. इसके बाद अटल जी को प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई की सरकार में विदेश मंत्री बनाया गया. वाजपेयी बतौर विदेश मंत्री संयुक्त राष्ट्र संघ में हिंदी में भाषण देने वाले पहले नेता बने थे. पहली बार 1996 में बने प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी पहली बार देश के प्रधानमंत्री मई 1996 में बने. हालांकि इस दौरान उनकी सरकार महज 13 दिन में ही अल्पमत मे आ गई और उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया. दूसरी बार बने पीएम एनडीए के नेता के रूप में अटल बिहारी वाजपेयी वर्ष 1998-99 में दूसरी बार देश के प्रधानमंत्री बने. लोकसभा चुनाव के बाद एनडीए ने सदन में अपना बहुमत साबित किया और इस तरह से बीजेपी ने एक बार फिर देश में सरकार बनाई. तीसरी बार का कार्यकाल अटल बिहारी वाजपेयी 13 अक्टूबर 1999 से 22 मई 2004 तक तीसरी बार देश के प्रधानमंत्री रहे. उनके इस कार्यकाल में देश ने उल्लेखनीय उपलब्धियां हासिल कीं. साल 2004 में आम चुनाव में बीजेपी की हार के बाद उन्होंने गिरती सेहत के चलते राजनीति से संन्यास ले लिया था. 2015 में मिला भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी को वर्ष 2015 में नरेंद्र मोदी की सरकार ने देश के सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न ने नवाजा. इस सम्मान से पहले भी वाजपेयी जी को पदम विभूषण से लेकर कई अन्य सम्मान प्राप्त हुए. अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी के कवि, पत्रकार और प्रखर वक्ता भी थे. भारतीय जनसंघ की स्थापना में भी उनकी अहम भूमिका रही. वे 1968 से 1973 तक जनसंघ के अध्यक्ष भी रहे. आजीवन राजनीति में सक्रिय रहे अटल बिहारी वाजपेयी लम्बे समय तक राष्ट्रधर्म, पाञ्चजन्य और वीर अर्जुन आदि पत्र-पत्रिकाओं के सम्पादन भी करते रहे. वाजपेयी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के समर्पित प्रचारक रहे और इसी निष्ठा के कारण उन्होंने आजीवन अविवाहित रहने का संकल्प लिया था. सर्वोच्च पद पर पहुंचने तक उन्होंने अपने संकल्प को पूरी निष्ठा से निभाया.
अटल जी की हालत अब भी नाजुक, पीएम मोदी संग अमित शाह फिर पहुंचे एम्स
16 August 2018
नई दिल्ली। देश के पूर्व पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तबीयत बुधवार से लगातार नाजुक बनी हुई है। इस बीच गुरुवार सुबह से ही एम्स में केंद्रीय मंत्रियों और भाजपा के वरिष्ठ नेताओं का मूवमेंट बढ़ गया है। ताजा जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह फिर से एम्स पहुंचे हैं। 2.00 - पीएम मोदी और अमित शाह के एम्स पहुंचने के बाद एसपीजी की गाड़ी भी पहुंची है। 1.45 - एम्स में अमित शाह, लोकसभा स्पीकर व अन्य नेता पहले से ही मौजूद हैं। 1.30 बजे - भाजपा अध्यक्ष अमित शाह फिर से एम्स पहुंचे हैं। 1.00 बजे - हालचल तेज होती नजर आ रही है और एसपीजी की टीम अटल जी के तुगलक रोड़ स्थित घर पहुंच चुकी है। 12.30 बजे- दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया एम्स पहुंचे 12. 10 बजे- फारुख अब्दुल्ला ने कहा कि हम उनके जल्द स्वस्थ्य होने की कामना करते हैं। वो केवल भारत नहीं पूरी दुनिया में शांति चाहते थे। 11.45 बजे - अटल जी के हालचाल जानने के लिए गृहमंत्री राजनाथ सिंह और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला एम्स पहुंचे। - एम्स के बाहर और उस तरफ के रास्तों पर ट्रैफिक डाइवर्ट कर दिया गया है। - एम्स से निकलकर अमित शाह सीधे भाजपा मुख्यालय पहुंचे हैं। - अस्पताल के बाहर हलचल तेज हो गई है, रास्ते बंद कर दिए गए हैं और एम्स के बाहर खड़े वाहनों को हटाया जा रहा है। पुलिस ने भी बैरिकेड्स लगा दिए गए हैं और सुरक्षा भी बढ़ा दी गई है। इसके बाद अब तरह-तरह के कयास लगाए जाने लगे हैं। उपराष्ट्रपति, पीएम पहुंचे एम्स सुबह उपराष्ट्रपति वैकेंया नायडू के अलावा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा, मुख्तार अब्बास नकवी, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के अलावा कई वरिष्ठ नेता अटल जी के स्वास्थ्य की जानकारी लेने के लिए एम्स पहुंचे। उनके अलावा भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी एम्स पहुंचे और अटल जी के स्वास्थ्य की जानकारी ली। इनके अलावा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी एम्स जाएंगे। पिछले 66 दिनों से एम्स में भर्ती अटल जी की तबीयत बुधवार को अचानक बिगड़ी और उसके बाद से ही उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है। जानकारी के अनुसार उनकी देखरेख में लगी डॉक्टर्स की टीम वाजपेयी के स्वास्थ्य पर लगातार नजर बनाए हुए हैं। अटल जी के स्वास्थ्य की सूचना के बाद देर शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेने के लिए एम्स पहुंचे। उन्होंने करीब एक घंटे तक एम्स के डॉक्टरों से वाजपेयी के स्वास्थ्य पर चर्चा की। रात करीब दस बजे एम्स प्रशासन की ओर से बताया गया कि अटल की तबीयत पिछले 24 घंटे से बेहद गंभीर है। जानकारी के अनुसार आज सुबह एम्स की तरफ से अटल जी के स्वास्थ्य को लेकर अपडेट आ सकता है। बुधवार दोपहर भारत रत्न व पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तबीयत खराब होने की खबरों के बीच केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी एम्स पहुंचीं। उन्होंने अटल के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली। इस बीच शाम तक एम्स के बाहर मीडिया का जमावड़ा लग गया। शाम करीब सात बजे वाजपेयी के स्वास्थ्य का हाल जानने के लिए पीएम मोदी बिना ट्रैफिक रूट के ही अचानक एम्स पहुंचे और करीब आठ बजे तक रुके। इसके बाद रात करीब दस बजे एम्स प्रशासन की ओर से मेडिकल बुलेटिन जारी कर बताया गया कि वाजपेयी पिछले 24 घंटे के दौरान उनकी हालत ज्यादा गंभीर हो गई है। उन्हें जीवन रक्षक उपकरणों की सहायता दी जा रही है। पीएम मोदी के अलावा अन्य केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, हर्षवर्धन, सुरेश प्रभु, जितेंद्र सिंह, अश्विनी कुमार चौबे और भाजपा नेता शाहनवाज हुसैन भी एम्‍स पहुंचे। गौरतलब है कि पूर्व प्रधानमंत्री पिछले दो माह से एम्स में भर्ती हैं। विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम उनके स्वास्थ्य की लगातार निगरानी कर रही है। उन्हें सांस लेने में परेशानी, यूरीन व किडनी में संक्रमण होने के कारण 11 जून को एम्स में भर्ती किया गया था।
व्यक्ति की पहचान उसके कर्म से, न कि समाज से कांग्रेस को सभी समाजों का समर्थन कलचुरी समाज के लोगों ने कमलनाथ से की मुलाकात
9 July 2018
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा है कि प्रदेश में कलचुरी समाज की प्रभावशाली उपस्थिति है। यह खुशी की बात है कि कांग्रेस को प्रदेश के सभी समाजों का समर्थन मिल रहा है। हर समाज के प्रतिनिधि मंडल मुझसे मिलकर कांग्रेस के प्रति निष्ठा व्यक्त कर रहे हैं। श्री नाथ आज यहां कांग्रेस कार्यालय में मध्यप्रदेश के सभी जिलों से आये कलचुरी समाज के प्रतिनिधियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि व्यक्ति की पहचान किसी जाति से नहीं बनती। उसकी पहचान पहले उसके कर्म से होती है। फिर समाज और जाति से। महत्वपूर्ण बात यह है कि जनता के साथ उसकी समदृष्टि है या नहीं। लोगांे के बीच उसकी संघर्षशीलता और सौम्यता पहचानी जाती है या नहीं। बिना किसी पद पर रहते हुए लोकहित के कामों में उसकी कितनी रूचि है। यह सभी बातंे किसी व्यक्ति को आगे बढ़ने में निर्णायक भूमिका अदा करती हैं। उन्होंने कलचुरी समाज के लोगों से कहा कि आप कांग्रेस के साथ इसलिए हैं, क्योंकि उसमें आपकी निष्ठा है। बैठक में चंद्रप्रभाष शेखर, प्रकाश जैन सहित कलचुरी समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजाराम शिवहरे, प्रादेशिक उपाध्यक्ष प्रकाश राय, सलाहकार शंकरलाल राय, युवा अध्यक्ष मनोज आर्य, वरिष्ठ नागरिक मंच की अध्यक्ष श्रीमती कल्पना राय, महिला समिति की मंजू शिवहरे, मीडिया प्रभारी विनोद सूर्यवंशी और भोपाल जिलाध्यक्ष प्रदीप राय आदि उपस्थित थे।
राजनैतिक परिवर्तन के चलते जनता अब भाजपा के साथ नहीं चुनाव में पूर्व जनप्रतिनिधियों की रहेगी निर्णायक भूमिका - कमलनाथ पूर्व मंत्रियों, सांसदों और विधायकों का सम्मेलन
9 July 2018
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश में राजनैतिक परिवर्तन के चलते आम जनता अब भाजपा के साथ नहीं है। यह बात भाजपा को भी महसूस हो रही है और इसलिए अब वह धन-बल की शक्ति के भरोसे चुनाव लड़ना चाहती है। श्री नाथ आज यहां प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में पूर्व मंत्रियों, सांसदों और विधायकों के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। कमलनाथ ने कहा कि आप सभी अनुभवी हैं और स्थानीय राजनैतिक समीकरणों को अच्छी तरह समझते हैं। आपने चुनाव करीब से देखा है। अगले चार महीने सब कुछ भूल जायें और बिना किसी निर्देश का इंतजार किये कांग्रेस को जिताने के लिए जुट जायें। यह कड़वे घूंट पीने का समय है। एक-दूसरे की गलतियों को माफ कर नया रास्ता खोजना आपका काम है। यदि यह काम आपने कर लिया तो निश्चित ही अगले विधानसभा चुनाव के बाद प्रदेश में कांग्रेस का झंडा लहरायेगा। कमलनाथ ने कहा कि विपरीत परिस्थितियों में निराश होने की नहीं, सबक सीखने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि बदले हुए राजनैतिक माहौल को जीत में बदलने के लिए आप सभी के सहयोग की सबसे ज्यादा जरूरत है। उन्होंने कहा कि अभी लक्ष्य केवल चुनाव है। मेरा आप सभी से लंबा संपर्क रहा है, आपने कांग्रेस की नींव बनायी है। चुनाव रणनीति में आज के माहौल में क्या परिवर्तन लाना है, यह आपको स्वयं तय करना है, क्योंकि राजनीति स्थानीय हो गई है। श्री नाथ ने उपस्थिति प्रतिनिधियों से घोषणा पत्र में शामिल किये जाने वाले मुद्दों पर सुझाव भी मांगे। पूर्व विधायक जसवंत सिंह, संपत जाजू, हरिवल्लभ शुक्ला, हामिद काजी और राजनारायणसिंह ने अपने सुझाव रखे। इन्होंने कहा कि एक-एक पूर्व जनप्रतिनिधि यदि चुनाव में अपनी पूरी ताकत झोंक दे तो प्रत्याशी को बीस से पच्चीस हजार तक वोट दिलवा सकते हैं। पूर्व विधायक की जबावदारी सुनिश्चित करें कि वह स्थानीय परिस्थिति के अनुरूप रणनीति बनाये। भाजपा को उन्हीं की भाषा से जबाव देना होगा। वोट के बंटवारे को रोकें और कांग्रेसजन जनता को मतदान केंद्र तक ले जायें। सम्मेलन में पूर्व मंत्री सुरेश पचैरी, सांसद राजमणि पटेल, मीनाक्षी नटराजन, गोविंद सिंह राजपूत, चंद्रप्रभाष शेखर, मानक अग्रवाल सहित प्रदेश से आये बड़ी संख्या में पूर्व मंत्री, पूर्व सांसद और पूर्व विधायक उपस्थित थे।
भाजपा ने उद्योगपतियों-व्यापारियांे से वादे तो बहुत किये पर उन्हें पूरा नहीं किया: कमलनाथ उद्योग-व्यापार प्रकोष्ठ की बैठक
9 July 2018
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि भाजपा ने उद्योगपतियों और व्यापारियों से वादे तो बहुत किये लेकिन उन्हें पूरा नहीं किया। उन्होंने कहा कि अब हम संभागीय और जिला स्तर पर कांग्रेस के उद्योग एवं व्यापार प्रकोष्ठ का गठन करेंगे। इसके बाद हर संभाग में व्यापारियों और उद्योगपतियों की समस्याओं को जानने के लिए सम्मेलन आयोजित किये जायेंगे। इसकी शुरूआत इंदौर से होगी। श्री नाथ आज यहां प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में नरेन्द्र नाहटा की अध्यक्षता वाले उद्योग एवं व्यापार प्रकोष्ठ के प्रतिनिधियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि छोटे-छोटे धंधे करने वाले और अन्य व्यापारी भाजपा सरकार से डरे हुए हैं। जीडीपी की दरें बढ़ रही हैं। उन्होंने कहा कि अधिक क्रय शक्ति से ही व्यापार चलता है। जिला उद्योग और व्यापार प्रकोष्ठ पहले अलग-अलग व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधियों को जोड़कर उनसे चर्चा करें और फिर उन संगठनों से जुड़े लोगों को एकत्र कर उनकी व्यवहारिक समस्याओं की जानकारी लें। इस आधार पर व्यापारियों की समस्याओं के समाधान की बातें कांग्रेस घोषणा पत्र में शामिल की जायेंगी। श्री नाथ ने कहा कि व्यापार प्रकोष्ठ हर सप्ताह कार्यक्रम करने की कार्ययोजना तैयार करे। इसके लिए पहले जिले और संभाग के उद्योगपति और व्यापारियों से चर्चा कर उसकी रणनीति बनायें, फिर अन्य लोगों को भी प्रकोष्ठ से जोड़े। इसके बाद व्यापारियों के अलग-अलग उद्योग-धंधों के आधार पर समूह तैयार करें। बैठक में सदस्यों ने सुझाव दिये कि व्यापार और उद्योग जगत में उनके एसोशिएशन के माध्यम से उनके पास जायें। जीएसटी लगने के बाद कई राज्यों में मंडी शुल्क समाप्त कर दिया है या कम कर दिया है, लेकिन मध्यप्रदेश में यह लागू है। इस पर भी विचार किया जाकर घोषणा पत्र में शामिल किया जाये। सदस्यों ने बिजली की दरें, रियल स्टेट, कलेक्टर गाईड लाईन, रजिस्ट्री शुल्क, दस्तावेज पंजीयन, डायवर्शन शुल्क, भू-राजस्व संहिता का उल्लंघन, सिंगल विंडों सिस्टम में भ्रष्टाचार, उद्योगों के लीज रेंट और संपत्ति कर आदि समस्याओं के समाधान को भी घोषणा पत्र में शामिल करने के लिए अपने सुझाव दिये। बैठक में प्रदेश कांग्रेस पदाधिकारी चंद्रप्रभाष शेखर, गोविंद गोयल, राजेन्द्र सिंह, रमेश चंद्र गुप्ता, अशोक जैन भाभा, चंदू अग्रवाल, प्रवीण अग्रवाल, सुनील अग्रवाल सहित अन्य सदस्य उपस्थित थे।
दिग्विजयसिंह 10 से 13 जुलाई तक धार, बड़वानी, अलीराजपुर और झाबुआ में कांग्रेस समन्वय समिति की बैठकें लेंगे
9 July 2018
अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह मंगलवार, 10 जुलाई को इंदौर से कार द्वारा रवाना होकर सुबह सवा दस बजे धार पहुंचेंगे। वे शाम छह बजे तक कांग्रेस समन्वय समिति की बैठक लेंगे और कार से रात्रि नौ बजे बड़वानी पहुंचकर वहां रात्रि विश्राम करेंगे। श्री सिंह बुधवार, 11 जुलाई को बड़वानी में कांग्रेस समन्वय समिति की बैठक लेने के बाद रात्रि साढे आठ बजे अलीराजपुर पहुंचेंगे और वहां रात्रि विश्राम करेंगे। श्री सिंह गुरूवार 12 जुलाई को अलीराजपुर और 13 जुलाई को झाबुआ में कांग्रेस समन्वय समिति की बैठकें लेंगे। वे शुक्रवार को रात्रि मंे मेघनगर पहुंचकर पश्चिम एक्सप्रेस द्वारा दिल्ली के लिए रवाना हो जायेंगे।
कांग्रेस आईटी एवं सोशल मीडिया सेल की प्रदेश स्तरीय बैठक मंगलवार को
9 July 2018
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार, 10 जुलाई को पूर्वान्ह 11 बजे से मध्यप्रदेश कांग्रेस आईटी एवं सोशल मीडिया सेल की प्रदेश, जिला व विधानसभा स्तरीय बैठक, प्रदेश कांग्रेस कार्यालय भोपाल में आयोजित की गई है। बैठक में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह राहुल भैया, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचैरी, संगठन प्रभारी चन्द्रप्रभाष शेखर व मीडिया प्रभारी मानक अग्रवाल विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे। कांग्रेस आईटी सेल के प्रदेश समन्वयक धर्मेन्द्र बाजपेयी व सह समन्वयक अभय तिवारी ने बताया कि आईटी सेल के पदाधिकारियों का ये कार्यक्रम ‘‘राजीव के सिपाही“ नाम से रखा गया है। बैठक में प्रदेश, जिला व विधानसभा स्तर के सभी कार्यकर्ता आमंत्रित किये गए हैं। बैठक का मूल उद्देश्य सभी पदाधिकारियों को कार्य योजना बताना व कार्य विभाजन से अवगत कराना है। कार्यक्रम के बाद सभी पदाधिकारियों को नियुक्ति पत्र प्रदान किये जायेंगे।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ द्वारा चुनाव आयोग से मुख्य सचिव को बदले जाने का आग्रह आयोग नये मुख्य सचिव की नियुक्ति के लिए सरकार से पैनल मांगे
28 Jun 2018
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने मुख्य चुनाव आयुक्त से मध्यप्रदेश में निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए मुख्य सचिव को बदले जाने का आग्रह किया है। उन्होंने मुख्य चुनाव आयुक्त से आग्रह किया है कि वे चुनाव की निष्पक्षता को कायम रखने के लिए सबसे पहले मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव को बदलने के लिए राज्य सरकार को निर्देशित करें। साथ ही नये मुख्य सचिव की नियुक्ति के लिए नामों का पैनल सरकार से बुलवायें। कमलनाथ ने चुनाव आयोग से वे सारे जरूरी कदम उठाने का आग्रह किया है जो कानूनी रूप से जरूरी हैं। कमलनाथ ने चुनाव आयोग को दिये पत्र में लिखा है कि मध्यप्रदेश में सत्ताधारी पार्टी द्वारा सत्ता का खुला दुरूपयोग किया जा रहा है। भाजपा सरकार की मंशा निष्पक्ष चुनाव कराने की नहीं है। चुनाव आयोग को यह भी ज्ञात है कि 2018 में मध्यप्रदेश में विधानसभा के चुनाव संभावित हैं। नाथ ने लिखा है कि राज्य सरकार ने 21 मई, 2018 को मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव का कार्यकाल छह माह के लिए बढ़ाया है। यह कार्यकाल पूरे चुनाव अवधि तक रहेगा। श्री नाथ ने पत्र में लिखा है कि जिन अधिकारियों को सेवावृद्धि दी जाती है वे सरकार के प्रति आभारी रहते हैं और कई बार अपने प्रशासनिक अधिकारों का सत्ताधारी पार्टी के पक्ष में दुरूपयोग करते हैं। उन्होंने लिखा है कि फंडामंेटल रूल एफ.आर. 56-ए के अनुरूप सरकारी कर्मचारी को 60 साल की उम्र पूरी करने वाले माह के आखिरी दिन सेवानिवृत्त हो जाना चाहिए। मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव उस उम्र को पहले ही पूरा कर चुके हैं और उनकी सेवानिवृत्ति 30 जून 2018 को तय थी। केवल उन निम्नलिखित अधिकारियों को सेवावृद्धि दी जा सकती है जो एफ.आर. 56-डी के अंतर्गत उल्लेखित परिस्थितियों में आते हैं:- ऽ वे सरकारी अधिकारी जो सरकार के बजट का काम कर रहे हों या ऐसी समिति के पूर्वकालिक सदस्य हों जो कुछ ही समय में अपना काम पूरा कर लेगी। ऽ कोई ऐसा विशेषज्ञ जो चिकित्सा और विज्ञान के क्षेत्र में कार्य कर रहा हो। ऽ अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वैज्ञानिक हो। ऽ केंद्र सरकार का कैबीनेट सचिव हो। ऽ रक्षा सचिव, विदेश सचिव, गृह सचिव, इंटेलीजेंस ब्यूरो के निदेशक, राॅ.के सचिव और सीबीआई का डायरेक्टर हो। ऽ आंतरिक्ष विभाग और परमाणु ऊर्जा विभाग का सचिव हो। कमलनाथ ने पत्र में लिखा है कि मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव इनमें से किसी भी परिधि में नहीं आते हैं। उनकी सेवावृृद्धि जनहित में नहीं है, बल्कि उनके प्रशासनिक अधिकारों का दुरूपयोग आगामी विधानसभा चुनाव में किये जाने के इरादे से दी गई है। उन्होंने लिखा है कि हांलाकि मुख्य सचिव परोक्ष रूप से सीधे चुनाव कार्य से जुड़े नहीं होते हैं, लेकिन वे प्रशासनिक अधिकारियों के कार्यों में सीधा हस्तक्षेप कर सकते हैं। राजस्थान का उदाहरण देते हुए कमलनाथ ने लिखा है कि वहां भी नये मुख्य सचिव डी.बी. गुप्ता को नियुक्त किया गया है, ताकि वे निवृत्तमान मुख्य सचिव निहालचंद गोयल का स्थान ले सकें। राजस्थान में भी 2018 में चुनाव होना है। इसलिए मध्यप्रदेश में मुख्य सचिव को सेवावृद्धि दिये जाने के लिए चुनाव का बहाना नहीं बनाया जा सकता और न ही उनकी सेवावृद्धि को जनहित में कहा जा सकता है। इस आधार पर मुख्य सचिव को सेवावृद्धि नहीं दी जा सकती। कमलनाथ ने लिखा है कि मुख्य सचिव का कार्यकाल बढ़ाने के बजाय बेहतर होता कि राज्य सरकार और केंद्र सरकार चुनाव आयोग से पहले मशविरा कर लेते, क्योंकि चुनाव आयोग आगामी चुनाव की पूरी प्रक्रिया को कंट्रोल करेगा। मुख्य सचिव की सेवावृृद्धि से स्पष्ट है कि राज्य सरकार चुनाव आयोग के स्पष्ट निर्देशों पर ध्यान नहीं दे रही है। इस वजह से चुनाव कार्य में लगे लोग हतोत्साहित होंगे। मुख्य सचिव राज्य का प्रशासनिक मुखिया होता है और उसका सीधा कंट्रोल चुनाव में लगे अधिकारियों पर होता है। कमलनाथ ने लिखा है कि हमें आशंका है कि राज्य सरकार द्वारा जिन मुख्य सचिव को सेवावृद्धि दी गई है , वे सत्ताधारी भाजपा पार्टी के राजनैतिक हित में अपने पद के प्रभाव का इस्तेमाल करेंगे। इससे निष्पक्ष चुनाव पर सीधा असर पड़ेगा। इसलिए हम चुनाव आयोग से संसदीय और लोकतांत्रिक परंपराओं को दृष्टिगत रखते हुए आग्रह करते हैं कि इस पूरे मामले की जांच करें और सख्त कदम उठायें। उन्होंने लिखा है कि चुनाव की निष्पक्षता और शुद्धता एक लोकतंत्र का मूल आधार है और चुनाव आयोग उस पर निगरानी रखने वाली संस्था है, ताकि निष्पक्ष चुनाव हों। आयोग उन लोगों के प्रति निर्णय लेने के लिए प्रतिबद्ध है, जो लोग जानबूझकर सरकारी मशीनरी का दुरूपयोग कर रहे हैं।
मासूम बच्ची के साथ ज्यादती का मामला शिवराजसिंह को भांजियों की कोई चिंता नहीं - कांग्रेस
28 Jun 2018
मध्यप्रदेश में मासूम बच्चियों के साथ बलात्कार के मामले थम नहीं रहे हैं। गुंडों, बदमाशों और अपराधियों में सरकार का कोई खौफ नहीं बचा। सरकार ने इस तरह की घटनाओं पर सख्ती से रोक लगाने के लिए अभी तक कोई सख्त कदम नहीं उठाये हैं। अभी हाल ही में मंदसौर में बुधवार को सरस्वती शिशु मंदिर की तीसरी कक्षा में पढ़ने वाली सात वर्षीय बालिका के साथ दो लोगों ने बलात्कार कर उसका गला रेत दिया और मरने के लिए स्कूल से पांच सौ मीटर की दूरी पर झाड़ियों में फेंक दिया। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह को तत्काल पीड़ित परिवार से मिलने जाना चाहिए था। मिलने जाना तो दूर, इस घटना पर मुख्यमंत्री पूरी तरह मौन हैं। सरकार के किसी नुमाइंदे ने भी अभी तक इस घटना को लेकर कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की है। मंदसौर सहित प्रदेश के अन्य इलाकों में घटना को लेकर रोष व्याप्त है। मंदसौर में जनता का गुस्सा फूट रहा है और जगह-जगह जुलूस निकाले जा रहे हैं। इन हालातों को देखते हुए किसी भी अनहोनी से इंकार नहीं किया जा सकता। ये परिस्थितियां बताती हैं कि मुख्यमंत्री भले ही कितने ही दावे करें और अपने आप को बच्चियों का मामा कहलवायें लेकिन उन्हें मासूम भांजियों की कोई चिंता नहीं है। चिंता होती तो वे मासूम बच्चियों के साथ लगातार हो रही इस तरह की घटनाओं से बचाव के लिए उपाय करने के निर्देश पुलिस अफसरों को देते। साथ ही स्कूल शिक्षा विभाग को भी निर्देश जारी करते कि प्रदेश के सभी स्कूलों में शिक्षक, अभिभावक बच्चों को इस तरह की घटनाओं के बारे में बतायें और अन्जान लोगों के बहाकवे न आकर सतर्क रहने के लिए समझायें। कांग्रेस ने इस घटना को गंभीरता से लिया है और विरोध स्वरूप शाम सात बजे मंदसौर में मौन जलूस निकालेगी। कांग्रेस ने सरकार से मांग की है कि हर शहर में ऐसे हिस्ट्री शीटर जिनके खिलाफ आर्मस् एक्ट, लूट, मारपीट और अन्य समाज विरोधी गतिविधियों के मामले दर्ज हैं उन पर पुलिस सतत निगरानी रखे। सरकार सामाजिक जागृति के लिए भी अभियान चलाये।
प्रशासनिक अधिकारी भाजपा का काम कर रहे हैं जिला निर्वाचन अधिकारियों को भी ईवीएम पर भरोसा नहीं - कांग्रेस
28 Jun 2018
प्रदेश कांग्रेस मीडिया प्रभारी मानक अग्रवाल ने कहा है कि सरकार के बड़े प्रशासनिक अधिकारी भाजपा का काम कर रहे हैं। कल मुख्यमंत्री निवास में भाजपा की बैठक के दौरान प्रमुख सचिव स्तर के दो अधिकारियों ने पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में भाग लिया और प्रजेंटेशन प्रस्तुत किया। यह कृत्य सिविल सेवा आचरण अधिनियम का सीधा उल्लंघन है। इन अधिकारियों के नाम भी पार्टी केे पास उपलब्ध हैं। श्री अग्रवाल ने कहा कि ऐसा लगता है कि मध्यप्रदेश शासन के प्रशासनिक अधिकारी अब जनहित के सरकारी काम में रूचि न लेकर भाजपा का काम कर रहे हैं। यह सब मुख्यमंत्री के संरक्षण के बिना संभव नहीं है। जब मुख्यमंत्री स्वयं अपनी उपस्थिति में प्रशासनिक अधिकारियों को पार्टी का काम करने के निर्देश दे रहें हैं तो यह पद के दुरूपयोग का मामला है। इस तरह की गतिविधियों पर तत्काल रोक लगना चाहिए। इसकी शिकायत कांग्रेस पार्टी चुनाव आयोग से करेगी। उन्होंने कहा कि कल प्रशासन अकादमी में जिला कलेक्टरों की ट्रेनिंग के दौरान ईवीएम की विश्वसनीयता पर सवाल उठते रहे। कलेक्टर को भी इन पर भरोसा नहीं है। ईवीएम और वीवी पेड की फस्र्ट लेवल चैकिंग ट्रेनिंग में बुधवार को इंदौर कलेक्टर निशांत बरवड़े ने कहा कि ईवीएम भी मशीन ही तो है। साफ्टवेयर टेंपर होते हैं। यह इस बात के संकेत हैं कि न केवल जनता बल्कि चुनाव कराने वाले जिला निर्वाचन अधिकारी भी ईवीएम को शक की निगाह से देख रहे हैं।
ज्योतिरादित्य सिंधिया कल मृत किसान के परिजनों से मिलने बैरसिया जायेंगे शनिवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में कार्यकर्ताओं से मिलेंगे
28 Jun 2018
मध्यप्रदेश कांग्रेस चुनाव प्रचार अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया शुक्रवार 29 जून को रात साढ़े नौ बजे नियमित विमान से दिल्ली से भोपाल आयेंगे। वे एयरपोर्ट से सीधे बैरसिया जायेंगे, वहां भाजपा के दबंगों द्वारा जिंदा जलाये गये किसान स्वर्गीय किशोरीलाल जाटव के परिजनों से मिलकर संवेदना व्यक्त करेंगे। श्री सिंधिया भोपाल वापस आकर कोलार रोड स्थित दानिश कुंज में पूर्व मंत्री स्वर्गीय महेन्द्रसिंह के भाई के.के. सिंह के यहां जायेंगे। वहां से वे वीआईपी गेस्ट हाउस आकर रात्रि विश्राम करेंगे। श्री सिंधिया दूसरे दिन शनिवार 30 जून को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में सुबह साढ़े दस बजे चुनाव प्रचार अभियान समिति की बैठक लेंगे। वे कांग्रेस कार्यालय मंे ही पौने पांच बजे तक रहेंगे और पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात करेंगे। श्री सिंधिया शाम पांच बजे पार्टी के प्रवक्ता और मीडिया सदस्य पंकज चतुर्वेदी के चूना भट्टी स्थित कार्यालय का शुभारंभ करेंगे। वे शाम छह से साढ़े सात बजे तक होटल जहांनुमा पैलेस मंे सेंट्रल प्रेस क्लब द्वारा आयोजित प्रेस से मिलिये कार्यक्रम में भाग लेंगे। श्री सिंधिया उसी दिन रात्रि में नियमित विमान से दिल्ली रवाना हो जायेंगे।
विधानसभा अध्यक्ष के परिवार द्वारा किया गया अतिक्रमण तत्काल हटाया जाये जमीन से कमाये दो अरब रूपये सरकारी खजाने में जमा करंे - मानक अग्रवाल
27 Jun 2018
प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रभारी मानक अग्रवाल ने कहा है कि विधानसभा अध्यक्ष सीताशरण शर्मा के पिताश्री पंडित रामलाल शर्मा के नाम पर होशंगाबाद में सरकारी जमीन पर अतिक्रमण कर चल रहे स्कूल और अवैध दुकानों को तत्काल तोड़ा जाये। श्री अग्रवाल ने कहा कि कलेक्टर की जांच से इस बात की पुष्टि हो गई है कि विधानसभा अध्यक्ष के भाई और पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष भवानी शंकर शर्मा ने 59 हजार 400 वर्गफीट सरकारी जमीन पर अवैध कब्जा कर स्कूल और दुकानें बना ली हैं। यह जमीन नगर पालिका के अधिपत्य की है। जब जिला प्रशासन के आदेश की प्रति लेकर नगर पालिका का अमला अतिक्रमण हटाने पहुंचा, तब अचानक उच्च स्तर से आये दबाव के कारण वह चुपचाप वापिस लौट आया। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार बनते ही जमीन पर बीते 14-15 साल से शर्मा परिवार का अवैध कब्जा है। श्री अग्रवाल ने आरोप लगाया है कि विधानसभा अध्यक्ष सीताशरण शर्मा के रसूख और दबाव के कारण अतिक्रमण नहीं हटाया जा रहा है। श्री शर्मा संवैधानिक पद पर हैं, जहां से वे अक्सर लोकतंत्र की रक्षा की दुहाई देते रहते हैं, अब उनके स्वयं का परिवार सरकार की नाक के नीचे खुलेआम नियम-कानून की धज्जियां उड़ाते हुए सरकारी जमीन पर अतिक्रमण कर रहा है। इस अतिक्रमण से शर्मा परिवार ने लगभग दो अरब रूपये का लाभ कमाया है। सरकार को इसे भी जप्त कर सरकारी खजाने में जमा करना चाहिए, ताकि यह राशि लोकहित में खर्च की जा सके। मानक अग्रवाल ने कहा है कि यह तो केवल एक उदाहरण है जो कलेक्टर की जांच में सामने आया है। यदि सघन जांच की जाये तो ऐसी बहुत सारी बेनामी और सरकारी संपत्ति सामने आ सकती है, जिस पर शर्मा परिवार का कब्जा है। विधानसभा के आखिरी सत्र में यह मामला आने वाला था। इसके अलावा इटारसी नगर पालिका में व्याप्त चरम सीमा को पार करने वाले भ्रष्टाचार का मामला भी विधानसभा मंे उठने वाला था। इस बात की जानकारी लगते ही येन-केन-प्रकारेण पांच दिन का सत्र डेढ़ दिन में ही समाप्त कर दिया गया। यह लोकतंत्र की हत्या का प्रत्यक्ष प्रमाण है।
सुधांशु त्रिपाठी 28 और 29 जून को उज्जैन में वर्षा गायकवाड़ 29 जून से 2 जुलाई तक रायसेन, राजगढ़, शाजाुपर एवं आगर जिले का दौरा करेंगी
27 Jun 2018
अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव प्रदेश सह प्रभारी सुधांशु त्रिपाठी 28 और 29 जून को उज्जैन जिले में कांग्रेसजनों से मुलाकात करेंगे। श्री त्रिपाठी 28 जून को अपरान्ह तीन बजे भोपाल से रवाना होकर सायं 6 बजे उज्जैन पहुंचेंगे। वे 29 जून को पूर्वान्ह 11 बजे उज्जैन में जिला / शहर कांग्रेस कमेटी के समस्त कार्यकर्ताओं और वरिष्ठ कांग्रेसजनों से मुलाकात करेंगे, तत्पश्चात शाम चार बजे उज्जैन से भोपाल के लिए रवाना हो जायेंगे। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की सचिव प्रदेश सह प्रभारी सुश्री वर्षा गायकवाड़ 29 जून से 2 जुलाई तक रायसेन, राजगढ़, शाजापुर एवं आगर जिले में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ चर्चा करेंगी। सुश्री गायकवाड़ 29 जून को दोपहर बारह बजे रायसेन पहुंचकर वहां जिला कांग्रेस कमेटी के कार्यकर्ताओं एवं वरिष्ठ कांग्रेसजनों के साथ बैठक लेंगी। वे शाम छह बजे भोपाल वापस आ जायेंगी। सुश्री गायकवाड़ 30 जून को दोपहर 12 बजे राजगढ़ पहुचेंगी और वहां भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं और वरिष्ठ जनों की बैठक लेंगी। वे शाम छह राजगढ़ से शाजापुर जायेंगी और वहां रात्रि विश्राम करेंगी। सुश्री वर्षा गायकवाड़ 1 जुलाई को पूर्वान्ह ग्यारह बजे शाजापुर में जिला कांग्रेस कार्यकर्ताओं और वरिष्ठ कांग्रेसजनों की बैठक लेने के बाद शाम छह बजे आगर जायेंगी और वहां रात्रि विश्राम करेंगी। सुश्री गायकवाड़ 2 जुलाई को पूर्वान्ह ग्यारह बजे आगर में जिला कांग्रेस कार्यकर्ताओं और वरिष्ठ कांग्रेसजनों के साथ बैठक लेंगी। वे अपरान्ह चार बजे आगर से भोपाल और वहां से शाम सात बजे नागपुर के लिए रवाना हो जायेंगी।
युवा संकल्प अभियान 2018 का (नलखेड़ा) आगर से हुआ शुभारंभ जनता की तकदीर और तस्वीर बदलने के लिए भाजपा की सरकार जरूरी - अभिलाष पांडेय
15 Jun 2018
भारतीय जनता युवा मोर्चा मध्य प्रदेश के युवा संकल्प अभियान 2018 का शुभारंभ आज को आगर जिले के नलखेड़ा से माँ बगलामुखी की पूजन अर्चना के साथ हुआ । मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री अभिलाष पाण्डे, पार्टी के प्रदेश महामंत्री एवं सांसद श्री मनोहर ऊंटवाल , भाजपा जिला अध्यक्ष श्री दिलीप सकलेचा ,विधायक श्री मुरलीधर पाटीदार सहित मोर्चा के प्रदेश पदाधिकारी मोजूद थे । युवा मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष श्री अभिलाष पांडेय ने अभियान के शुभारंभ पर करते हुए कहा कि युवा मोर्चा कार्यकर्ता इस अभियान के माध्यम से यह संकल्प लेकर निकले हैं कि आगामी विधानसभा चुनाव 2018 में मध्यप्रदेश में पुनः भाजपा की सरकार बनाते हुए कमल का फूल खिलाएंगे । जिस प्रकार मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार सर्वस्पर्शी विकास करते हुए विकास का पर्याय बनी है । उसी तरह युवा मोर्चा मध्य प्रदेश सर्वव्यापी एवं सर्वस्पर्शी होगा, युवा संकल्प अभियान के माध्यम से सभी वर्गों के युवा साथियों को शामिल किया गया है, 35 वर्ष से कम आयु का युवा हमारा है। इस भाव के साथ एवं भारतीय जनता पार्टी की विचारधारा के साथ इस अभियान के माध्यम से युवा मोर्चा कार्यकर्ता प्रदेश की हर एक पंचायत, हर एक मतदान केंद्र तक पहुंचेंगे । बाइक रैली के रूप में शामिल हो रहे कार्यकर्ता नलखेड़ा से माँ बगलामुखी की पूजन अर्चना के बाद मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री अभिलाष पाण्डे के नेतृत्व में मोर्चा कार्यकर्ता बाइक रैली से आगर पहुंचे, यात्रा मार्ग में विभिन्न स्थानों पर कार्यकर्ताओ ने प्रदेश अध्यक्ष का गर्मजोशी के साथ स्वागत किया. आगर में पार्टी के प्रदेश महामंत्री श्री मनोहर ऊंटवाल, पार्टी के प्रदेश मंत्री एवं मोर्चा के प्रदेश प्रभारी श्री पंकज जोशी, प्रदेश प्रवक्ता श्री राजपाल सिसोदिया ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया । श्री पांडेय ने कार्यकर्ताओ को संबोधित करते हुए कहा कि युवा मोर्चा कार्यकर्ता एवं युवा मोर्चा की पंचायत कार्यकारिणी के स्पेशल 11 कार्यकर्ता आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा के विजयी होने का शंखनाद करेंगे । मध्य प्रदेश में जरूरी है कि जनता की तकदीर और तस्वीर बदलने के लिए चौथी बार भाजपा की सरकार बने। कांग्रेस पार्टी को मतदान केंद्र से युवा मोर्चा के स्पेशल 11 कार्यकर्ताओ की टीम उखाड़ फेंकने का कार्य करेंगे । कार्यक्रम में मोर्चा कार्यकर्ताओं एवं युवाओं को आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा को विजयी दिलाने हेतु संकल्प दिलाया गया । इस अवसर पर भाजपा जिला अध्यक्ष श्री दिलीप सकलेचा ,विधायक श्री मुरलीधर पाटीदार, प्रदेश उपाध्यक्ष श्री वैभव पवार , युवा मोर्चा प्रदेश महामंत्री श्री के पी झाला, श्री प्रदीप नायर, प्रदेश कार्यालय मंत्री श्री दीपेन्द्र पाल ,श्री सी. एम. धाकड़ ,प्रदेश कोषाध्यक्ष श्री चंद्र प्रकाश मिश्रा, प्रदेश सह मीडिया प्रभारी श्री शिशिर बड़कुल सहित युवा मोर्चा कार्यकर्ता उपस्थित थे। यात्रा आगर से आलोट होते हुए मंदसोर पहुची विभिन्न स्थानों पर मोर्चा कार्यकर्ताओ ने मंच एवं पुष्पवर्षा कर स्वागत किया। यात्रा का रात्री विश्राम मंदसौर रहेगा. 16 जून को यात्रा जावरा, रतलाम होते हुए आदिवासी अंचल के अलीराजपुर पहुंचकर युवाओं से संपर्क करेगी । युवा संकल्प अभियान के माध्यम से आगर नलखेड़ा से प्रारंभ हुई यात्रा प्रदेश के सभी दस संभागों से होती हुई, 3 जुलाई को छिंदवाड़ा पहुंचेगी ।
मोदी सरकार के चार वर्ष की उपलब्धियों को लेकर कार्यकर्ता घर-घर संपर्क करेंगे
25 May 2018
भोपाल। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार 26 मई को अपने उपलब्धि भरे कार्यकाल के चार वर्ष पूर्ण करने जा रही है। भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता मोदी सरकार की उपलब्धियों एवं योजनाओं को लेकर घर-घर संपर्क करेंगे। जिसको लेकर 26 मई से 11 जून के बीच विशेष अभियान चलाया जायेगा। पार्टी के 4 हजार वरिष्ठ नेता देश के 1 लाख प्रबुद्ध व्यक्तियों से संपर्क कर उन्हें केन्द्र सरकार की चार वर्षो की उपलब्धियांे से अवगत करायेंगे। 26 मई को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी उडीसा में इस अवसर पर जनसभा को संबोधित करेंगे। जिसका लाइव प्रसारण जिला केन्द्रों पर किया जायेगा। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह 26 मई को ही केन्द्रीय कार्यालय में पत्रकार वार्ता के माध्यम से सरकार की उपलब्धियों एवं संगठन की आगामी कार्ययोजना रखेंगे। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष उपाध्यक्ष श्री विजेश लुणावत ने बताया कि 26 मई से 11 जून के बीच विशेष अभियान में कार्यकर्ता प्रबुद्ध नागरिकों व समाज के हर वर्ग से संपर्क करेंगे। प्रबुद्ध नागरिक सम्मेलन की शुरूआत 27 मई को भोपाल से होगी। उन्होंने बताया कि संपर्क अभियान में केन्द्र के मंत्री, सांसद, राज्य के मंत्री, विधायक, निगम, बोर्ड के अध्यक्ष, प्रदेश जिला पदाधिकारी, प्रबुद्ध जन से संपर्क करेंगे। सेवानिवृत्त न्यायाधीश, सेवानिवृत्त अधिकारियों, साहित्य कला, संस्कृति, लोक कलाओं, खेल स्पर्धा, उद्योग जगत से जुडे वरिष्ठजन, वरिष्ठ पत्रकार, किसान नेताओं से संवाद किया जायेगा। उन्होंने बताया कि विकास यात्राओं के दौरान हर विधानसभा क्षेत्र में केन्द्र और राज्य सरकार की योजनाओं के लाभार्थियों के सम्मेलन एवं अनुसूचित जाति बस्तियों में एक दिवसीय संपर्क अभियान चलाया जायेगा। वरिष्ठ नागरिकों से संवाद और संपर्क भी विकास यात्रा का प्रमुख कार्यक्रम होगा। जिला केन्द्रों पर पार्टी के वरिष्ठ कार्यकर्ता पत्रकार वार्ता कर केन्द्र सरकार की चार साल की उपलब्धियों से अवगत करायेंगे। जिला स्तर पर बुद्धिजीवी, साहित्यकार एवं कलाकारों के सम्मेलन आयोजित होंगे। अनुसूचित जनजाति मोर्चा आदिवासी सम्मान यात्रा के दौरान बिरसा मंुडा के शहादत दिवस 9 जून को ग्राम सभाओं का आयोजन करेगा। 3 जून को प्रदेश भर में एक साथ सार्वजनिक स्थानों पर लगी महापुरूषों की मूर्तियों के आसपास स्वच्छता अभियान चलाकर प्रतिमा पर माल्यार्पण किया जायेगा। जिसमें स्थानीय निकायों की विशेष भूमिका होगी। श्री लुणावत ने बताया कि इस महत्वाकांक्षी कार्यक्रम में बूथ संपर्क अहम है। प्रत्येक बूथ पर कम से कम 50 लोगों से बूथ प्रमुख और मंडल के पदाधिकारी संपर्क करेंगे। इन सभी कार्यक्रमों के दौरान Narendramodi App डाउनलोड कराया जायेगा। 11 जून को युवा मोर्चा द्वारा मंडल स्तर पर वाहन रैलियों के आयोजन कि साथ विशेष संपर्क अभियान का समापन होगा। उन्होंने कहा कि जहां केन्द्र सरकार के 48 माह की उपलब्धियां लेकर पार्टी कार्यकर्ता जनता के बीच पहंुचेंगे वही राज्य सरकार की 14 वर्षो की उपलब्धियां भी विशेष उत्साहवर्द्धन करेगी। इस अभियान में पार्टी के कार्यकर्ता, पदाधिकारी, निर्वाचित प्रतिनिधियों की विशेष भूमिका होगी।
चार वर्षो में मोदी सरकार जनआकांक्षाओं पर खरी उतरी : शर्मा भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महामंत्री श्री विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में राजग सरकार पिछले चार वर्षों में जनआकांक्षाओं पर खरी उतरी है। सामाजिक, आर्थिक मोर्चा पर नए कीर्तिमान स्थापित करते हुए सामाजिक सरोकार पूरा किया। मोदी सरकार ने शुचिता पूर्ण पारदर्शिता के साथ 700 से अधिक नई योजनाएं आरंभ की। सब्सिडी के रूप में बिचैलियों की भेंट चढने वाले तीस हजार करोड़ रूपए की राशि की लूट समाप्त की। हितग्राही को मिलने वाली राशि उसके खाते में जमा हुई। उन्होंने कहा कि देश में नोटबंदी, वस्तु और सेवा कर जैसे आर्थिक सुधार किए गए जिससे कर अपवंचन पर लगाम लगी, कालेधन के सृजन पर विराम लगा, विदेशी प्रत्यक्ष निवेश के लिए भारत विदेशी निवेशकों का गंतव्य बना। उन्होंने कहा कि आर्थिक मोर्चा पर बेहतर प्रदर्शन से जीडीपी दर सात प्रतिशत के आसपास बनी रही। विश्व की रेटिंग एजेंसी और क्रेडिट एजेंसी ने भारत की सराहना करते हुए आने वाले दिनों में भारत की अर्थव्यवस्था को दुनिया की तीव्रगति से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था का तगमा प्रदान किया। श्री शर्मा ने कहा कि लोकतंत्र में जनता का फैसला सर्वमान्य होता है। इस कसौटी पर भी भारत ने रिकार्ड बनाते हुए दस राज्यों में जनादेश हासिल किया। देश का सबसे पुराना दल कांग्रेस के पैर अनेक राज्यों में सत्ता से उखड़ गए और दस राज्य हाथ से फिसल गए। आज भारतीय जनता पार्टी और उसके सहयोगी दलों की 21 राज्यों में सरकार बनी है जो राजनीति को सेवा का माध्यम बनाकर गांव, गरीब, किसान, मजदूर, पिछड़ो के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने डोकलाम में दृढ़ता दिखाकर चीन के मंसूबों पर पानी फेरा। आज दुनिया के शक्तिशाली देश अमेरिका, चीन, रूस, ईरान, इस्राईल, जापान, आस्टेªलिया सहित सभी देशों से भारत का कूटनीतिक संतुलन पूर्व की अपेक्षा से अधिक बेहतर है। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार की योजनाओं का सफल क्रियान्वयन सभी राज्यों में हो रहा है। मध्यप्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना के माध्यम से ग्रामीण अंचल में 14 लाख 74 हजार 28 एवं शहरी क्षेत्रों में 2 लाख 45 हजार आवास स्वीकृत हुए है। उज्जवला योजना के तहत 34 लाख 1 हजार 516 गैस कनेक्शन प्रदेश की बहनों को वितरित किए गए। प्रधानमंत्री जन धन योजना के जरिए प्रदेश में ढाई करोड़ से अधिक खाते खुले और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना से प्रदेश के 81.15 लाख लोग लाभान्वित हुए है। श्री शर्मा ने कुशल राजनय और लोकोन्मुखी प्रशासन के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को बधाई दी है और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को देश के लिए दैवीय वरदान बताया है।
हरीशंकर विश्वकर्मा प्रदेश कार्यालय मंत्री पद से कार्यमुक्त भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री राकेश सिंह की अनुमति से पिछड़ा वर्ग मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री भगत सिंह कुशवाह ने मोर्चा के प्रदेश कार्यालय मंत्री श्री हरीशंकर विश्वकर्मा को तत्काल कार्यमुक्त कर दिया है।
कार्यशालाओं में किसानों की भागीदारी सुनिश्चित करने में किसान मोर्चा जुटेगा भोपाल। प्रदेश सरकार द्वारा जून माह में सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों के 2800 क्लस्टरों में किसान कार्यशालाओं आयोजित होगी। जिसमें किसान खेती की नई तकनीकों के साथ इम्प्रूव्ड फार्मिंग के लिए उपकरणों के बेहचतर उपयोग को सीखेंगे। कार्यशालाओं में कृषि वैज्ञानिक, किसान के उत्पादों के विपणन के लिए मार्गदर्शन देने देश के कृषि वैज्ञानिकों, विपणन विशेषज्ञों का मार्गदर्शन भी किसानों को मिलेगा। किसान कार्यशालाओं में किसानों की बेहतर भागीदारी हो इसके लिए किसान मोर्चा व्यापक तैयारियों में जुट गया है। पार्टी के प्रदेश महामंत्री व किसान कार्यशालाओं के संगठनात्मक पर्यवेक्षक श्री बंशीलाल गुर्जर ने कहा कि देश के कृषि विपणन विशेषज्ञ विशेष रूप से कार्यशालाओं में किसानों के उत्पादों के विपणन की नई व्यवस्था पर विस्तार से प्रकाश डालेंगे। साथ ही प्रदेश में जैविक कृषि को आय वृद्धि के साधन के रूप में अपनाने के लिए विशेष प्रजेन्टेशन दिया जायेगा। कार्यशालाओं को जून के 30 दिनों में इस तरह आयोजित किया जायेगा कि कृषि की नवीनतम तकनीक किसानों तक आसानी से पहंुचायी जा सके। प्रदेश के प्रगतिशील किसान भी अतिथि प्रशिक्षक होंगे। श्री गुर्जर ने कहा कि इसी दरम्यान 10 जून को किसान मोर्चा द्वारा जिला केन्द्रों पर किसान सम्मेलन आयोजित किए जायेंगे। इन कार्यक्रमों में किसान की अच्छी भागीदारी सुनिश्चित की जा सके इसके लिए किसान मोर्चा ने विधानसभा क्षेत्रवार कार्यशालाओं में भाग लेने वाले किसानों से संपर्क कर स्थानीय कृषि के मुद्दों को भी चिन्हित किया है जिससे इन कार्यशालाओं की प्रासंगिकता बढेगी।
किसान मोर्चा के पदाधिकारी 27 मई से राज्य की उपलब्धियों और संगठनात्मक संरचना के लिए जनसंवाद करेंगे भोपाल। भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री रणवीर सिंह रावत ने बताया कि किसान मोर्चा के पदाधिकारी 27 मई से प्रदेश के विभिन्न अंचलों में पहंुचेंगे और राज्य सरकार की किसानोन्मुखी नीतियों, संगठनात्मक संरचना के सुदृढ़ीकरण के लिए जनसंवाद करेंगे। श्री रणवीर सिंह रावत 27 मई को आगर, मालवा, रतलाम, मंदसौर, नीमच में आयोजित कार्यक्रम में भाग लेंगे। श्री कृष्णा यादव उज्जैन और श्री हिम्मत सिंह दांगी संवाद के लिए मंदसौर पहंुचेंगे। मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री वीरेन्द्र राणा हरदा, देवास, प्रदेश मंत्री श्री निरंजन बिसेन छिंदवाडा, मंडला, प्रदेश उपाध्यक्ष श्री दर्शन चौधरी रायसेन, बाडी, नरसिंहपुर, होशंगाबाद में जनसंवाद करेंगे। श्री मुकेश तिवारी रायसेन, बाडी बरेली, सुल्तानपुर, श्री पदमसिंह ठाकुर, श्री अशोक मीणा और श्री सुनील चौहान भोपाल, संदीप श्रीवास्तव सीहोर और श्री प्रेम सिंह पटेल तथा श्री कैलाश पाटीदार इंदौर संभाग के जिले में पहंुचेंगे।

भारतीय जनता पार्टी जिला भोपाल की संगठनात्मक कार्य विस्तार की बैठक संपन्न हुई
24 May 2018
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी जिला भोपाल की संगठनात्मक कार्य विस्तार की बैठक संपन्न हुई। जिसमें भोपाल के भारतीय जनता पार्टी के प्रभारी श्री रोडमल नागर ने बूथ चलों अभियान, सभी मतदान केन्द्रों पर बूथ प्रभारी, नवमतदाता सम्मेलन, पेज प्रमुख जैसे विषयों पर मंडल अध्यक्षों की समीक्षा की और मंडल स्तर पर बैठकें करने का निर्देश दिया। बैठक में मुख्य रूप से भोपाल संभाग के प्रभारी, प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अरविन्द भदौरिया, भाजपा प्रदेश मंत्री श्रीमती कृष्णा गौर, भोपाल जिला अध्यक्ष व विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, भोपाल सांसद श्री आलोक संजर, महापौर श्री आलोक शर्मा, बीडीए अध्यक्ष श्री ओम यादव, माटी कला बोर्ड अध्यक्ष श्री रामदयाल प्रजापति व जिले के समस्त पदाधिकारी व मंडल अध्यक्ष उपस्थित हुए। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह ने फेसबुक लाइव के माध्यम से कार्यकर्ताओं से सीधे संवाद किया। भारतीय जनता पार्टी जिला भोपाल की ओर से प्रोजेक्टर लगाकर सीधा प्रसारण अरेरा कालोनी 12 नं. पर किया गया। जिसमें भाजपा जिला अध्यक्ष व विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, भारतीय जनता युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष श्री नीतिन दुबे, पार्षद श्री संतोष हिरवे, पार्षद श्रीमती सुषमा बबीसा, पार्षद श्री बाबूलाल यादव, मंडल अध्यक्ष श्री राजकुमार विश्वकर्मा, मंडल के युवा मोर्चा के अध्यक्ष श्री राहुल पचैरी सहित भारतीय जनता पार्टी के समस्त कार्यकर्ता उपस्थित थे। तत्पश्चात विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह ने 20 लाख का भूमिपूजन कर विकास यात्रा संपन्न की।
राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री शाह ने भाजयुमो के चलो पंचायत अभियान को सराहा​
​राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री शाह को 21000 पंचायतों की सूची युवा मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष श्री पांडे ने सौंपी​

5 May 2018
भारतीय जनता पार्टी प्रदेश स्तरीय विस्तारक बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह को भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष अभिलाष पांडे एवं अभियान के प्रदेश प्रभारी श्री चंद्रप्रकाश मिश्रा ने मोर्चा द्वारा प्रदेश की 21000 पंचायतों में गठित स्पेशल इलेवन की पुस्तिका भेंट की। राष्ट्रीय अध्यक्ष जी, मुख्यमंत्री जी, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जी ने मोर्चा के चलो पंचायत अभियान को सराहा। उक्त अवसर पर मंच पर मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री प्रभात झा, राष्ट्रीय महासचिव श्री कैलाश विजयवर्गीय, राष्ट्रीय संगठन महामंत्री श्री रामलाल जी राष्ट्रीय मंत्री श्रीमती ज्योति धुर्वे, प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह, चुनाव प्रबंध समिति के संयोजक केंद्रीय मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर, श्री धर्मेन्द्र प्रधान, श्री थावरचंद गहलोत, श्री वीरेंद्र कुमार खटीक, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, पूर्व मुख्यमंत्री श्री बाबूलाल गौर, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष श्री विक्रम वर्मा, सांसद श्री नंदकुमारसिंह चौहान, डॉ. सत्यनारायण जटिया, चुनाव प्रबंध समिति के सह संयोजक श्री फग्गन सिंह कुलस्ते, डॉ. नरोत्तम मिश्रा, श्री लालसिंह आर्य मंचासीन थे।
राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह 4 को आयेंगे
2 May 2018
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सांसद श्री अमित शाह 4 मई को प्रातः 9.30 बजे भोपाल पधारेंगे। वे यहां भेल दशहरा मैदान पर आयोजित पार्टी की प्रदेश स्तरीय विस्तारित बैठक को संबोधित करेंगे। तत्पश्चात सायंकाल भोपाल से प्रस्थान करेंगे। राष्ट्रीय अध्यक्ष के आगमन को लेकर कार्यकर्ताओं में अपार उत्साह है और वे अपने नेता के स्वागत के लिए आतुर है। स्टेट हैंगर से कार्यक्रम स्थल तक के मार्ग में स्थान स्थान पर श्री अमित शाहजी का स्वागत किया जायेगा। राष्ट्रीय अध्यक्ष जी के आगमन की तैयारियों के सिलसिले में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष निरंतर भोपाल में रहकर समूची व्यवस्थाओं पर कार्यकर्ताओं के साथ निरंतर चर्चा कर रहें है।
कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद गुफा मंदिर पहुंचे कमलनाथ, बोले- मंदिरों में जाने का ठेका भाजपा ने नहीं लिया
2 May 2018
भोपाल. मध्य प्रदेश कांग्रेस के नए अध्यक्ष कमलनाथ सक्रिय हो चुके हैं। भाजपा और शिवराज से मुकाबले के लिए कमलनाथ भोपाल के गुफा हनुमान मंदिर में पहुंचे। मंगलवार को प्रदेश अध्यक्ष का पदभार संभालने के बाद ही अगले ही दिन कमलनाथ ने भोपाल के गुफा मंदिर का दर्शन किया है। उन्होंने कहा कि मंदिर जाने का भाजपा ने ठेका नहीं लिया है और न ही भगवान पर उनका अधिकार है। ये बात मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कमलनाथ ने कही थी, जिसे बुधवार को भी दोहराते रहे। इसके पहले कमलनाथ ने बुधवार को सुबह पार्टी कार्यालय में वरिष्ठ नेताओं के साथ मीटिंग ली। गुफा मंदिर पहुंचे कमलनाथ -भोपाल के गुफा मंदिर में दर्शन के बाद कमलनाथ ने कहा कि वो धार्मिक व्यक्ति हैं और भगवान के आशिर्वाद से ही प्रदेश में कांग्रेस 2018 में विधानसभा चुनावों में जीत दर्ज करेगी। इसके बाद कमलनाथ उज्जैन के महाकाल और दतिया के मां पीतांबरा पीठ के दर्शन भी करेंगे। बीजेपी ने कोई ठेका नहीं लिया -कमलनाथ ने कहा कि मंदिर जाना बीजेपी का कॉपीराइट नहीं है। भगवान सभी के हैं और भगवान के दरबार में सभी बराबर हैं। इससे पहले राहुल गांधी, दिग्विजय सिंह, फिर ज्योतिरादित्य सिंधिया औऱ अब कमलनाथ भगवान के द्वार पर जाकर जीत की प्रार्थना करते नज़र आ रहे हैं। कांग्रेस मतलब परस्त है : भाजपा -इधर, इस मामले में बीजेपी ने कांग्रेस पर मतलबपरस्त होने का आरोप लगाया है। बीजेपी प्रवक्ता के मुताबिक कमलनाथ हों या फिर कोई और बड़ा नेता। सिर्फ चुनावों के समय पर मंदिर-मंदिर जाकर वोट की राजनीति करना उन्हें शोभा नहीं देता. वो जनता को बरगला कर वोट हासिल नहीं कर पाएंगे. जनता कांग्रेस की असलियत जानती है। इसलिए देवी-देवताओं की शरण में -दरअसल, पिछले कुछ विधानसभा चुनावों से कांग्रेस अपनी तुष्टीकरण की छवि से बाहर निकलना चाहती है। गुजरात के विधानसभा चुनावों में राहुल गांधी के मंदिर फार्मूले ने पार्टी को फायदा पहुंचाया और गुजरात में कांग्रेस ने उम्मीद से बढ़कर प्रदर्शन किया। यही फार्मूला कमलनाथ मध्य प्रदेश में अपनाते नजर आ रहे हैं। वे सॉफ्ट हिंदुत्व वाली छवि को लेकर चल रहे हैं। इसके पहले पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भी कह चुके हैं कि नर्मदा यात्रा के दौरान उनके सारे पाप धुल चुके हैं।
चलो पंचायत अभियान में 21 हजार से अधिक पंचायतों का गठनः पाण्डे
16 April 2018
भोपाल। भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री अभिलाष पाण्डे ने कहा कि युवा मोर्चा ने मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के दिशा निर्देशों पर पंचायत गठन का अभियान प्रारंभ किया है। पंचायत गठन अभियान के माध्यम से मोर्चा प्रत्येक पंचायत में 11 सदस्यीय टीम गठित कर रहा है। अभियान के तहत अभी तक 21775 पंचायत एवं 5200 नगरीय निकाय वार्डो में 11 सदस्यीय टीम का गठन पूर्ण कर लिया है। जल्दी ही शेष पंचायतों एवं वार्डो में गठन पूर्ण कर लिया जायेगा। पंचायत गठन अभियान के माध्यम से प्रदेश के ढाई लाख से अधिक युवा सीधे युवा मोर्चा से जुड़कर मिशन 2018 में जुटकर मध्यप्रदेश में चैथी बार भाजपा सरकार बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायेंगे। यह बात श्री पाण्डे ने आज युवा मोर्चा की पंचायत गठन की प्रदेश टोली, प्रवासी कार्यकर्ता एवं संभागीय आईटी, मीडिया एवं सोशल मीडिया की बैठक को संबोधित करते हुए कही। बैठक को चलो पंचायत के प्रदेश प्रभारी एवं मोर्चा कोषाध्यक्ष श्री चन्द्रप्रकाश मिश्रा ने भी संबोधित किया। उन्होंने कहा कि युवा मोर्चा के चलो पंचायत अभियान के तहत प्रत्येक पंचायत एवं वार्ड में एक संयोजक एवं दस सदस्यीय टीम का गठन किया जा रहा है। जिसमें पंचायत में रहने वाले सोशल मीडिया के सक्रिय युवा के साथ समाजसेवा के क्षेत्र में विशेष काम करने वाले युवाओं को जोड़ने के लिए खासा ध्यान रखा गया है। उन्होंने कहा कि पंचायत गठन के साथ ही पंचायत स्तर तक विभिन्न कार्यक्रम होंगे। 22 अप्रैल को मेरी पंचायत मेरी पहचान कार्यकम में पंचायत के किसी भी एक सार्वजनिक स्थान पर पंचायत टोली द्वारा स्वच्छता अभियान चलाया जायेगा। बैठक में मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री सुदीप भदौरिया, श्री वैभव पंवार, प्रदेश मंत्री श्री दीपक उइके, प्रदेश कार्यालय मंत्री श्री दीपेन्द्रसिंह पाल सहित मोर्चा के सोशल मीडिया, मीडिया एवं आईटी के प्रभारी एवं सह प्रभारी उपस्थित थे।
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती के पूर्व दिवस पर युवा मोर्चा कार्यकर्ता निकालेंगे समरसता रैली
13 April 2018
भारतीय जनता युवा मोर्चा मध्य प्रदेश के कार्यकर्ता बाबासाहेब डॉ भीमराव अंबेडकर जयंती के पूर्व दिवस पर समरसता रैली निकालेंगे ।     युवा मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष श्री अभिलाष पांडेय ने बताया कि चलो पंचायत महा अभियान के अंतर्गत सामाजिक समरसता का संदेश देने वाले बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर जी की जन्म जयंती के पूर्व दिवस 13 अप्रैल को युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं द्वारा प्रदेश की प्रत्येक पंचायत एवं वार्ड स्तर पर समरसता रैली निकाली जाएगी । समरसता रैली में प्रत्येक वार्ड एवं पंचायत स्तर से कार्यकर्ता 5 - 5 मोटरसाइकिल से मंडल केंद्र पहुंचेंगें , जहाँ सामूहिक रूप से कार्यक्रम का आयोजन होगा ।              समरसता रैली में मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष श्री अभिलाष पांडेय जबलपुर में सम्मिलित होंगे ।
जिला अध्यक्ष, विधायक श्री सुरेन्द्र नाथ सिंह ने किया प्रधानमंत्री आवास योजना का निरीक्षण
1 April 2018
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष, विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह ने आज 12 नं. बस स्टाॅप स्थित प्रधानमंत्री आवास योजना का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान आये मंदिर विस्थापन विवाद पर विधायक जी ने तत्काल एसडीएम एवं नगरनिगम के संबंधित अधिकारियों को मौके पर बुलाकर तुरंत निराकरण करने के लिए आग्रह किया। निर्माण कार्य कर रही कंपनी को तत्काल उचित स्थान तय कर मंदिर निर्माण करने के बाद ही मंदिर विस्थापन करने के लिए निर्देशित किया। निरीक्षण के दौरान जिला अध्यक्ष जी के साथ एसडीएम श्री संजय श्रीवास्तव, तहसीलदार एमपीनगर, टीआई श्री चैहान, क्षेत्रीय पार्षद श्रीमती सुषमा बबीसा, जोन अध्यक्ष बाबूलाल यादव, नगरनिगम के संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।
लोकसभा-विधानसभा के एक साथ निर्वाचन पर आमजन की राय जानने होंगी प्रदेश के प्रमुख नगरों में बैठकें वन नेशन, वन इलेक्शन के बारे में हुई विस्तृत चर्चा
22 March 2018
एक साथ लोकसभा, विधानसभा निर्वाचन के बारे में विचार-विमर्श करने के संबंध की गई महत्वपूर्ण पहल के पश्चात राज्य स्तरीय समिति की प्रथम आज मंत्रालय में सम्पन्न हुई। जनसम्पर्क, जल संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र की अध्यक्षता में हुई बैठक में बताया गया कि राष्ट्र हित से जुड़े इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर समाज के विभिन्न पक्षों के विचार जानने के लिए राज्य स्तरीय समिति प्रदेश के अन्य अंचलों में भी बैठकों का आयोजन करेगी। राज्य स्तरीय समिति की अगली बैठक 2 अप्रैल को भोपाल में होगी। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने भी पूर्व में एक साथ लोकसभा और विधानसभा निर्वाचन की बात अनेक अवसरों पर प्रभावशाली ढंग से रखी है। मानवीय श्रम, धन की बचत के साथ ही विभिन्न कारणों से एक साथ निर्वाचन का विचार महत्वपूर्ण मंचों पर प्रस्तुत हुआ है। मध्यप्रदेश ने सर्वप्रथम समिति गठित कर इस मुद्दे पर विचार की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया है। राज्य स्तरीय समिति के अध्यक्ष मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज बैठक में कहा कि देश में विभिन्न राज्यों की विधानसभाओं के कार्यकाल अलग-अलग समय पर समाप्त होते हैं। ऐसी दशा में लोकसभा के साथ सभी राज्यों के विधानसभा चुनाव सम्पन्न हों, यह व्यवहारिक रूप से संभव नहीं। दो हिस्सों में निर्वाचन की कार्यवाही का विचार ज्यादा उपयोगी माना गया है, जिसमें लोकसभा के साथ अधिकांश राज्यों के विधानसभा चुनाव हों और दूसरे हिस्से में शेष राज्यों के विधानसभा चुनाव एक साथ हों। इस संबंध में संविधान और विधि विशेषज्ञों, प्रमुख विचारकों, मीडिया प्रतिनिधियों, जनप्रतिनिधियों और आमजन के विचार प्राप्त कर निष्कर्ष की ओर बढ़ा जा सकता है। समिति के सदस्य पर्यटन निगम के अध्यक्ष श्री तपन भौमिक ने कहा कि लोकसभा और विधानसभा के निर्वाचन साथ करवाने के अलावा नगर पालिका और अन्य स्थानीय निकायों के निर्वाचन भी एक साथ होना चाहिए। इसके साथ ही एक मतदाता सूची के निर्माण की आवश्यकता है। वरिष्ठ समाजसेवी श्री विष्णु दत्त शर्मा ने कहा कि प्रदेश के विभिन्न अंचल में बैठकें होने से एक साथ निर्वाचन के संबंध में जनसाधारण के महत्वपूर्ण विचार प्राप्त होंगे। बैठक में नर्मदा घाटी विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री रजनीश वैश्य ने बताया कि एक साथ लोकसभा और विधानसभा निर्वाचन करवाए जाने के संबंध में भारत सरकार के स्तर पर विचार-विमर्श की प्रक्रिया सम्पन्न हुई है। पूर्व वर्षों में विभिन्न समितियों और नीति आयोग के परामर्श भी प्राप्त किए गए हैं। समिति के सदस्य श्री एन.एन. रूपला ने कहा कि संविधान में आवश्यक संशोधन की प्रक्रिया के पूर्व राज्यों से जनमत जानने की पहल महत्वपूर्ण है। इस अवसर पर प्रमुख सचिव संसदीय कार्य विभाग एवं समिति की संयोजक श्रीमती वीरा राणा उपस्थित थीं। बैठक के प्रारंभ में बताया गया कि देश में वर्ष 1952, 1957, 1962 और 1967 में लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ हुए थे। संवैधानिक प्रावधानों के अनुसार लोकसभा, विधानसभा, नगरीय निकाय तथा पंचायत सभी की अवधि प्रथम अधिवेशन के लिए नियत तारीख से पांच वर्ष है। समिति के लिए एक साथ चुनाव करवाने से सुविधा, एक साथ चुनाव करवाने में आने वाली कठिनाईयों और उनके समाधान, एक साथ चुनाव करवाने का निर्णय होने पर अपनाई जाने वाली प्रक्रिया, आवश्यक संशोधन प्रक्रिया के बिन्दु विचारणीय हैं।
पाठ्यक्रमों में महापुरूषों की जीवनी पढ़ाई जायेगी
26 February 2018
भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि युवा मोर्चा ने पं. दीनदयाल उपाध्याय के विचारों को अंतर्राष्ट्रीय सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता के माध्यम से युवाओं के बीच ले जाने का काम किया है। महापुरूषों की जीवनियों से बच्चे प्रेरणा लें और राष्ट्र निर्माण में सहभागी बनें इसके लिए पाठ्यक्रमों में महापुरूषों की जीवनी पढ़ाई जायेगी, ताकि बच्चे महापुरूषों की जीवनियों को आत्मसात कर सकें। यह बात मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज युवा मोर्चा द्वारा आयोजित काॅफी विद् सी.एम. कार्यक्रम में कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस की सरकारों ने शिक्षा व्यवस्थाओं को अधकचरा करने का काम किया। हमने निःशुल्क शिक्षा व्यवस्था बेटा-बेटियों को सुलभ करवाई और शिक्षा की गुणवत्ता को और बेहतर करने का प्रयास कर रहे हैं। काॅफी विद् सी.एम. कार्यक्रम में युवा मोर्चा द्वारा आयोजित मेरे दीनदयाल अंतर्राष्ट्रीय सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता में हर जिले के विजयी 6 प्रतिभागी सामिल हुए। विजयी उम्मीदवारों ने मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को ‘कैसा हो मध्यप्रदेश’ के लिये सुझाव दिये। मुख्यमंत्री ने कहा कि रचनात्मक, सकारात्मक कामों से समाज में नई क्रांति का संचार होता है। उन्होंने युवाओं को संकल्प दिलाते हुए कहा कि रचनात्मक कार्यों के जरिए समाज और मजबूत करने का काम करें। मुख्यमंत्री ने युवा मोर्चा के पंचायत गठन की प्रशंसा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि युवा कौशल विकास से जुड़ें और विकसित मध्यप्रदेश में सहभागी बने इसके लिए 15 लाख बच्चों को युवा स्वरोजगार, युवा उद्यमी के माध्यम से कौशल उन्नयन से जोड़ा जायेगा। साथ ही रोजगार की दिशा में और प्रयास करेंगे। मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री अभिलाष पाण्डे ने मोर्चा के आगामी कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए कहा कि युवा मोर्चा मध्यप्रदेश लगातार रचनात्मक सकारात्मक एवं संगठनात्मक तरीकों से कार्य कर रहा है। युवा मोर्चा 'मेरे दीनदयाल' अंतर्राष्ट्रीय सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता के उपरांत पंचायत स्तर तक कार्यकारिणी गठन करने जा रहा है। मेरे दीनदयाल प्रतियोगिता को आयोजित करने का उद्देश्य यही था कि प्रत्येक जिले से विजय हुए सुपर सिक्स विद्यार्थी भविष्य में प्रदेश एवम देश का नाम रोशन करें। इस अवसर पर भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष श्री विजेश लूनावत, प्रदेश महामंत्री श्री विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेन्द्र पाराशर, आईटी प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक श्री शिवराज डाबी, जिला अध्यक्ष व विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, युवा मोर्चा राष्ट्रीय महामंत्री श्री सौरभ खत्री, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री मुर्गा नंदन, युवा मोर्चा प्रदेश सह प्रभारी श्री प्रताप नागर, वल्र्ड रिकार्ड बुक के प्रतिनिधि श्री संतोष शुक्ला एवं युवा मोर्चा मध्यप्रदेश में प्रदेश पदाधिकारी उपस्थित थे।
कार्यकर्ता सरकार की योजनाओं को प्रत्येक मतदाता तक पहुंचाएं : सुरेन्द्रनाथ सिंह
कार्यकर्ता पार्टी का जनाधार बढ़ाने के लिए मतदाताओं के बीच जाए: कृष्णा गौर

3 February 2018
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी जिला भोपाल की महत्वपूर्ण बैठक आज पलिटेक्निक चौराहा हिन्दी भवन में प्रातः 11 बजे संपन्न हुई। बैठक में पार्टी की प्रदेश मंत्री श्रीमती कृष्णा गौर ने संबोधित करते हुए अल्पकालीन कार्य विस्तार योजना की रूपरेखा पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि समयदानी कार्यकर्ता कार्य विस्तारक के रूप में 11 से 18 फरवरी तक बूथ स्तर पर मतदाताओं के घर-घर जाकर केन्द्र एवं प्रदेश सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं को लेकर जाए, जिससे पार्टी का जनाधार बढ़ाया जा सके। भोपाल जिला अध्यक्ष व विधायक श्री सुरेंद्रनाथ सिंह ने भोपाल के सभी 85 वार्डो पर अल्पकालीन कार्य विस्तार के कार्यकर्ताओं को मार्गदर्शन देते हुए कहा कि विधानसभा चुनाव 2018 हम सबके लिए महत्वपूर्ण है। हम सबको मिलकर बूथ स्तर तक मजबूत करना है। सभी कार्यकर्ता सरकार की योजनाओं को निचले स्तर तक ले जाए जिससे मतदाताओं को लाभ पहुंचे। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व सांसद श्री आलोक संजर ने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय अल्पकालीन कार्य विस्तार योजना में पार्टी के अल्पकालीन विस्तारक बूथ स्तर तक पहुंचाकर संपर्क और संवाद करेंगे। बूथ स्तर पर कार्यकर्ताओं की बैठक के साथ ही रचनात्मक कार्य वृक्षारोपण, पर्यावरण, जैविक खेती, गौ संरक्षण एवं स्वसहायता समूह से चलने वाले कार्य जैसे प्रकल्पों के लिए प्रोत्साहित करेंगे। सरकार की उपलब्धियों को लेकर भी विस्तारक घर-घर संपर्क करेंगे। बैठक में महापौर श्री आलोक शर्मा, भोपाल विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री ओम यादव, श्री सत्यार्थ अग्रवाल, श्री विकास वीरानी, श्री अनिल अग्रवाल, श्री अशोक सैनी, श्री चेतन सिंह, श्री भगवानदास सबनानी, श्री श्याममोहन श्रीवास्तव, श्री अक्षत शर्मा, श्री सतीश विश्वकर्मा, श्री राम बंसल, श्री सुधीर जाचक, श्री राजेन्द्र गुप्ता, श्री जगदीश यादव, श्री राहुल राजपूत, श्री कुलदीप खरे, श्रीमती भारती अग्रवाल, श्रीमती वंदना जाचक, श्रीमती हंसकुंवर राजपूत, श्री महेश जोशी, श्री महेश शर्मा, श्री आशुतोष तिवारी, श्री निखलेश मिश्रा, श्री नित्यानंद शर्मा, श्री मनोज विश्वकर्मा सहित प्रदेश पदाधिकारी, विधायक, पार्षद, जिला पदाधिकारी मंडल अध्यक्ष, महामंत्री, मोर्चा अध्यक्ष, प्रकोष्ठ संयोजक बूथ के पदाधिकारी उपस्थित थे। उक्त अवसर की जानकारी जिला मीडिया प्रभारी श्री राजेन्द्र गुप्ता ने दी।
बीमारू राज्य से विकासोन्मुखी मध्यप्रदेश विगत 15 वर्षों की विकास यात्रा का सुफल: चौहान 28 January 2018
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान ने गणतंत्र दिवस पर राज्यपाल श्रीमती आनन्दी बेन पटैल के संबोधन को प्रदेश की साढ़े सात करोड़ जनता की आकांक्षाओं का प्रतिबिंब बताते हुए कहा कि मध्यप्रदेश ने विगत 14-15 वर्षों में बीमारू राज्य से एक विकासोन्मुखी मध्यप्रदेश का सफर सफलतापूर्वक किया है। रोटी, कपड़ा और मकान की बुनियादी आवश्यकताएं जिस तरह पूरी की जा रही हैं। इसका ब्यौरा भी राज्यपाल ने अपने संबोधन में जनता के सामने पटल पर रख दिया है। उन्होंने भरोसा दिलाया कि यह तो एक पड़ाव है। विकास का कारवां मंजिल की ओर बढ़ रहा है जिसे कोई भी शक्ति रोक नहीं सकती। श्री चौहान ने इन वर्षों की प्रगति को ऐतिहासिक उपलब्धि बताते हुए प्रदेश की जनता को बधाई दी है। क्योंकि यह ऐतिहासिक क्षण सरकार और जनता के मिलेजुले प्रयासों का ही प्रतिफल है। खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने में प्रदेश-देश में अग्रणी राज्य बना है, जहाॅ करीब साढ़े पांच करोड़ नागरिकों को सस्ता राशन 1 रू. किलो गेहॅू उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में हर परिवार को आवासीय भूखंड के स्वामित्व का गौरव भूखंड अधिकार अभियान के अंतर्गत सौंपा जा रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में शासकीय भूमि पर रहने वाले 27 लाख ग्रामीणों को भू-अधिकार सौंपा जा चुका है। ग्रामीण विभिन्न योजनाओं में 17.50 लाख आवास निर्मित किये जा चुके हैं। आगामी वर्ष 15 लाख आवास बनाने का लक्ष्य है। शहरी क्षेत्र में आवासहीनों को 5 लाख मकान और दस लाख आवासीय इकाईयां बनाई जायेंगी। श्री चौहान ने कहा कि वैधव्य के अवसाद से राहत और सम्मानपूर्वक जीवन बसर करने के लिए बिना बीपीएल की शर्त के विधवा पेंशन दी जायेगी। इसी तरह प्रदेश सभी 54 अस्पतालों में हर जिले में निशुल्क डायलेसिस सुविधा मिलेगी। व्यय साध्य कैंसर उपचार के लिए अस्पतालों में कैंसर रोगी को निःशुल्क कीमोथेरोपी उपचार उपलब्ध किया जायेगा। कुपोषण की समस्य पर प्रहार करते हुए राज्य सरकार ने आदिमजातियों को हर माह 1000 रू. की विशेष राशि देने का प्रबंध भी किया है। कुपोषण ग्रस्त क्षेत्रों में 11.5 लाख स्कूलों के बच्चों को चिक्की पोषक आहार गुड़ मूंगफली पाक देकर पोषक आहार की पूर्ति की जायेगी। उन्होंने बताया कि किसानों को भावान्तर भुगतान योजना वरदान सिद्ध हुई है जिसका अन्य राज्य भी अनुसरण कर रहे हैं। इसका रबी फसल के लिए भी विस्तार किया जायेगा जो मूल्य स्थिरीकरण होने से किसान शोषण मुक्त होंगे। किसानों को खरीफ फसल का प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ दिलाया गया है। हर खेतीहर किसान के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना वरदान बन रही है।
मुख्यमंत्री 1 फरवरी को मुंगावली में
अशोकनगर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री अरविंद भदौरिया ने बताया कि 1 फरवरी को मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मुंगावली के स्टेडियम में दोप. 11 बजे कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे। 31 जनवरी को मुंगावली विधानसभा के हर बूथों पर संत रविदास जयंती मनाई जाएगी।
मुंगावली में मंत्री भूपेन्द्र सिंह और गौरीशंकर ने किया जनसंपर्क
अशोकनगर। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश शासन के गृह मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने मुंगावली के बहादुरपुर मण्डल के पाटन, टीटोर, जारोली एवं धुबियाई में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश की शिवराज सरकार किसान हितैषी सरकार है जो लगातार जनकल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से आम आदमी के विकास का मार्ग प्रशस्त कर रही है और यही कारण है कि प्रदेश में लगातार तीसरी बार भारतीय जनता पार्टी की सरकार और श्री शिवराज ंिसंह चौहान मुख्यमंत्री बने हैं। विकास का यह क्रम मुंगावली पहुंचेगा और भारतीय जनता पार्टी ऐतिहासिक मतों से मुंगावली में जीत दर्ज करेगी। श्री भूपेन्द्र सिंह एवं कृषि मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन ने आज मुंगावली विधानसभा के एक दर्जन से अधिक गावों में सघन जनसंपर्क कर भारतीय जनता पार्टी को जिताने की अपील की। उन्होंने कहा कि देश में भारतीय जनता पार्टी सरकार है, प्रदेश में शिवराज सरकार है। इस बार मुंगावली में भी भाजपा सरकार होगी। उन्होंने कहा कि मुंगावली क्षेत्र की जता में भारतीय जनता पार्टी के प्रति भारी उत्साह है। जनता विकास के साथ आगे बढ़ेगी और भाजपा को जिताएगी, क्योंकि जनता जानती है कि भाजपा विकास का दूसरा नाम है। श्री भूपेन्द्र सिंह ने बहादुरपुर चुनाव कार्यालय पर सेक्टर प्रभारियों एवं वरिष्ठ कार्यकर्ताआंे की बैठक में भाग लिया। इस अवसर पर वरिष्ठ नेता श्री नाथू सिंह गुर्जर, श्री चन्द्रभान सिंह डांगी, श्री भानू रघुवंशी, श्री अनीस त्रिवेदी, श्री रविन्द्र दुबे, श्री नंदलाल यादव, श्री गोपाल कोल, श्री नीलम सिंह यादव, श्री जगन्नाथ सिंह यादव, श्री दिवान सिंह, श्री देवेन्द्र दांगी, श्री सत्येन्द्र कलावत, श्री लड्डूराम कोरी, श्री गोपीलाल जाटव, श्री प्रदीप जैन, श्री सिकंदर खान, श्री शिवकुमार यादव, श्री मदन लोधी सहित वरिष्ठ नेता उपस्थित थे। वरिष्ठ मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन ने आज नादनखेड़ी, जाकलोन, जतौली, सरदारपुर, तिन्सी, रामपुरा और बरखेड़ा डांग में जनसंपर्क करते हुए भाजपा के पक्ष में मतदाताओं से अपील की। उनके साथ पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री जीतू जिराती, श्री अवधेश नायक, श्री सत्येन्द्र जैन, श्री धनपाल यादव, श्री सचिन चैधरी, श्री राजेश नादनखेड़ी, श्री महेन्द्र जैन, श्री बलवान यादव, श्री नागेन्द्र परिहार, श्री संतोष ओझा, श्री देवेन्द्र ताम्रकर सहित वरिष्ठ नेता मौजूद थे।
राष्ट्रीय पर्व पर कांग्रेसी बखेड़े ने रूग्ण मानसिकता बेनकाब की: संजर
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता और सांसद श्री आलोक संजर ने कहा कि गणतंत्र दिवस समारोह राष्ट्रीय पर्व का अवसर होता है। जब हम गणतंत्र की खातिर अपने प्राणोत्सर्ग करने वाले वीरो के प्रति नमन करते हैं। ऊंचनीच की भावना का परित्याग कर गणगण से गले मिलते हैं। राजशाही सामन्तवादी मानसिकता को तिलांजलि देते हैं। ऐसे में कांग्रेस द्वारा सीट आवंटन को लेकर बखेड़ा करना न तो अवसर के अनुकूल है और न ही उचित है। एकाधिकारवादी भावना के वशीभूत होकर कांग्रेसियों के अनावश्यक विवाद खड़ा करने से गरिमा का क्षरण होगा कांग्रेस की गरिमा बढ़ने वाली नहीं है। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में देश की जनता ने कांग्रेस को उसकी जगह चिन्हित कर दी है। यह लोकतंत्र का तकाजा है जिसे कांग्रेस कबूल करे या न करें लेकिन जनता ने तो श्री राहुल गांधी के पराक्रम को अस्वीकार कर दिया है। यह कांग्रेस और श्री राहुल गांधी के लिये संकेत है कि वे जनभावना का सम्मान करें और संसदीय परम्पराओं के अनुसार आचरण करें। श्री संजर ने कहा कि यूपीए सरकार के दौरान भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री राजनाथ सिंह ने कभी इस बात पर विवाद नहीं किया कि उन्हें समारोह पूर्ण परेड के मौके पर कहाॅ सीट आवंटित की। व्यवस्था का परिपालन करना और राष्ट्रीय पर्व पर जनता के साथ उल्लासपूर्वक शामिल होना सच्चे लोकतंत्र प्रेमी का राजनैतिक धर्म और कत्र्तव्य है, लेकिन गणतंत्र दिवस के पुनीत मौके पर भी कांग्रेस ने अपना कल्चर प्रदर्शित करके अपनी रूग्ण मानसिकता का सबूत दिया है।
अग्नि पीड़ित कपड़ा व्यापारियों को राज्य सरकार ने विशेष पैकेज देकर राहत प्रदान की: शर्मा
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष और विधायक श्री रामेश्वर शर्मा ने बताया कि हिरदाराम नगर में हुए अग्निकांड की चपेट में आया कपड़ा बाजार जलकर खाक हो गया। कपड़ा व्यापारियों के आॅसू पोछते हुए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अग्नि पीड़ितों की राहत प्रदान करने के लिए नियमों को शिथिल करते हुए विशेष पैकेज स्वीकृत किया है पहली बार इस तरह नियमों को शिथिल किया गया है, इससे अग्नि पीड़ितों के प्रति मुख्यमंत्री और राज्य सरकार की सदाशयतापूर्ण उदारता का परिचय मिला है। अग्नि पीड़ित के लिये सरकार ने खजाना खोल दिया है। उन्होंने बताया कि हिरदाराम नगर के अग्नि पीड़ित सभी 86 कपड़ा व्यापारियों को दो-दो लाख रू. की आर्थिक सहायक स्वीकृत की जा चुकी है। यह पहली बार किसी अग्नि पीड़ित को दी जाने वाली सहायता होगी। इसी तरह प्रत्येक व्यापारी को आयकरदाता होते हुए भी मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के अंतर्गत दस-दस लाख रू. का कर्ज मंजूर किया जायेगा। आयकरदाता को ऐसा कर्ज देने का प्रावधान पहली बार किया गया है। इस कर्ज पर अढ़ाई लाख रू. अनुदान भी मिलेगा। ब्याज मात्र 6 प्रतिशत लिया जायेगा। श्री शर्मा ने बताया कि हिरदाराम नगर में भविष्य में ऐसी कोई अनहोनी घटना न हो इसके लिए ऐहतियाती उपाय बरते जायेंगे। साथ ही एक अग्निशमन सचल इकाई की इस उपनगर के लिए मंजूरी भी दे दी गई है। जो जल्दी ही कारगर होगी। श्री रामेश्वर शर्मा ने विशेष पैकेज मंजूर किये जाने पर मुख्यालय और राज्य सरकार की उदारता की सराहना करते हुए उनका आभार व्यक्त किया है।

मुख्यमंत्री को लिखा सांसद श्री आलोक संजर ने पत्र लालघाटी स्थित निर्माणाधिन सेतु का नाम हेमु कालाणी रखने की मांग - दुर्गेश केसवानी
27 January 2018
27 जनवरी 2018। भोपाल के सांसद आलोक संजर ने मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान को पत्र लिखकर लालघाटी स्थित निर्माणाधिन सेतु का नाम अमर शहीद हेमु कालाणी रखने की मांग की है। सेवा संस्था सेवा के अध्यक्ष दुर्गेश केसवानी ने सांसद को पूर्व मंे सौपे दो सुत्रीय ज्ञापन में कहा था कि लालघाटी स्थित निर्माणाधीन ओवर ब्रिज का नाम सिन्धु वीर अमर शहीद हेमु कालाणी के नाम पर रखने एवं उनकी जीवनी को मध्यप्रदेश के पाठ्यक्रम मंे शामिल करवाने की मांग की गई थी। दुर्गेश केसवानी ने कहा कि सिन्धु वीर अमर शहीद हेमु कालाणी ने जो त्याग और वलिदान दिया है उससे युवाओं को प्रेरणा लेना चाहिए।

aaनव वर्ष की शुरूआत स्वच्छता अभियान के साथ


1 January 2018

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष व विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, सांसद श्री आलोक संजर ने नव वर्ष की शुरूआत स्वच्छता अभियान के साथ शुरू किया। उन्होंने 12 नंबर कुशाभाऊ ठाकरे नगर में झाड़ू लगाई और नालियों से कचरा निकाला। उन्होंने रहवासियों को स्वच्छता का संकल्प दिलाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 2 अक्टूबर गांधी जयंती से स्वच्छता अभियान की शुरूआत करके देश को स्वच्छ करने का जो बीड़ा उठाया है उसे हम सबको मिलकर पूरा करना है। स्वच्छ और स्वस्थ रहना है तो सबसे पहले अपने घर और मोहल्ले से सफाई रखना होगी। इसी तरह हम सब लोग मिलकर अपना भोपाल अब की बारी नंबर वन की तैयारी को बनाए रखेंगे। इस अवसर पर जिला मीडिया प्रभारी राजेंद्र गुप्ता, युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष श्री नितिन दुबे, मंडल अध्यक्ष श्री राजकुमार विश्वकर्मा, महामंत्री श्री मुकुल लोखंडे, श्री दिनेश कुशवाहा, युवा मोर्चा अरेरा मंडल अध्यक्ष राहुल पचैरी, पार्षद श्रीमती सुषमा बबीसा, श्रीमती संतोष हिरवे, युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष श्री नितिन दुबे, श्री अनंत संजर, महामंत्री युवा मोर्चा गोपाल तोमर मनोज ठाकुर, पवन दुबे, श्री पंकज त्रिपाठी, राजेश हिरवे, श्री महेंद्र तोमर, श्री ओसवाल जी सहित मंडल के सभी पदाधिकारी मोर्चा प्रकोष्ठ के के संयोजक उपस्थित थे।


aaभाजपा की जीत बूथ के कार्यकर्ताओं की मेहनत पर ही निर्भरः सुहास भगत


24-Dec-2017

भारतीय जनता पार्टी जिला भोपाल की आज अरेरा मंडल की कार्यसमिति बैठक संपन्न हुई। बैठक का प्रारंभ सांसद श्री आलोक संजर, जिला अध्यक्ष श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, वरिष्ठ नेता श्री शांतीलाल लौढ़ा एवं बीडीए अध्यक्ष श्री ओम यादव ने दीप प्रज्जवलित कर किया। बैठक में प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत ने संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा की जीत बूथ के कार्यकर्ताओं की मेहनत पर ही निर्भर रहती है। देश भर में भाजपा की जीत का परचम बूथ कार्यकर्ताओं के दम पर ही जीता है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक मोर्चा बूथ पर सक्रिय होगा और उसकी समिति सक्रिय होगी तो उसका फायदा पार्टी को निश्चित रूप से मिलेगा। उन्होंने कहा कि केन्द्र एवं प्रदेश सरकार ने अनेकों जनकल्याणकारी योजनाएं हर वर्ग के उत्थान के लिए प्रारंभ की है और योजनाओं का लाभ समाज के हर वर्ग को मिल रहा है। कार्यकर्ता हितग्राहियों तक पहुचे और उन्हें पार्टी की विचारधारा से जोड़ने का काम करें। प्रदेश उपाध्यक्ष श्री विजेश लुनावत ने कार्यकर्ताओं से आह्वान करते हुए कहा कि वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव के लिए कार्यकर्ता कमर कस लंे और जी जान जुट जाए। अबकी बार 200 पार का लक्ष्य कार्यकर्ताओं के बल पर ही पूरा होगा। भोपाल सांसद श्री आलोक संजर ने एकात्म मानववाद पर जोर देते हुए कहा कि अंतिम पंक्ति के अंतिम व्यक्ति तक प्रदेश एवं केंद्र सरकार की योजनाओं का लाभ पहुंचाया जा रहा है। इन योजनाओं का लाभ प्रत्येक व्यक्ति तक पहुंचे इसके लिए बूथ स्तर के कार्यकर्ता प्रतिबद्ध रहें। जिला अध्यक्ष श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में हम कार्य के आधार पर ही जनता से वोट मांगेंगे और विकास के आधार पर ही हम जनता के बीच जायेंगे। सुशासन और विकास भाजपा का मूलमंत्र है। इस अवसर पर डाॅ. हितेष वाजपेयी, पूर्व विधायक श्री शैलेन्द्र प्रधान, श्री शैतान सिंह पाल, श्री हिरेन्द्र बहादुर, नगरनिगम अध्यक्ष श्री सुरजीत सिंह चैाहन, महामंत्री श्री विकास विरानी, श्री सुधीर जाचक, श्री राजेन्द्र गुप्ता, श्रीमती शशि सिन्हो, श्रीमती सीमा सिंह, श्रीमती वंदना जाचक, श्रीमती हेमलता कोठारी, श्रीमती सविता यादव, श्री अश्विनी राय, श्री भगवत रघुवंशी, मंडल अध्यक्ष श्री राजकुमार विश्वकर्मा, महामंत्री श्री मुकुल लुखंडे, श्री दिनेश कुशवाह, श्री बाबूलाल यादव, श्रीमती सुषमा बबीसा, श्रीमती संतोष हिरवे, श्री महेश गावशिंदे, युवा मोर्चा मंडल अध्यक्ष श्री राहुल पचैरी, श्री करतार सिंह तोमर, श्री रमेश सिंह ठाकुर, वार्ड संयोजक श्री महेन्द्र वर्मा सहित अरेरा मण्डल के सभी पदाधिकरी, मोर्चा प्रकोष्ठ के पदाधिकारी, सभी बूथ समिति के पदाधिकरी उपस्थित थे।


aaकोलारस उपचुनाव अंचल के विकास के लिए एक स्वर्णिम अवसर: चौहान


20-Dec-2017

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमारसिंह चौहान ने कहा कि आज देश के 19 राज्यों में भारतीय जनता पार्टी और सहयोगी दलों एनडीए की सरकारें है। गांव, गरीब, किसान और मजदूरों के लिए देश में श्री नरेन्द्र मोदी और मध्यप्रदेश में श्री शिवराजसिंह चौहान के नेतृत्व में जितना काम हुआ है उतना आजादी के बाद नहीं हुआ। प्रधानमंत्री आवास योजना में आवासहीन ग्रामीण को सब मिलाकर 1 लाख 38 हजार रूपए दिया जाता है, जिससे पक्का मकान पीढ़ी दर पीढ़ी के उपयोग में आयेगा। कांग्रेस एक मकान बनाने के लिए 35 हजार रूपए मंजूर करती थी। पूरी राशि तब भी हितग्राही को नहीं मिल पाती थी। पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी ने स्वीकार किया था कि दिल्ली से भेजा गया 1 रूपए में से हितग्राही को 15 पैसे मिलते है। आज एनडीए सरकार पूरी राशि हितग्राही के खाते में जमा करती है। एनडीए के साढ़े तीन वर्ष न तो भ्रष्टाचार का मामला आया और न कोई घोटाला आया। कोलारस में विकास यात्रा का समापन करते हुए श्री नंदकुमारसिंह चौहान ने कहा कि आसन्न उपचुनाव क्षेत्रीय जनता के लिए एक स्वर्णिम अवसर है और कमल को विजयी बनाकर चार वर्षों की कसर पूरी की जायेगी। थमा हुआ विकास आगे बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस (पंजा राज) में जनता को लाल गेंहू परोसा जाता था। श्री शिवराजसिंह चैहान के नेतृत्व में प्रदेश में हितग्राहियों को 1 रूपए किलो गेंहू और चावल उपलब्ध है। भाजपा रोटी, कपड़ा और मकान देने के लिए प्रतिबद्ध है। कांग्रेस ने पांच दशकों तक देश में शासन किया। कभी किसान की सुध नहीं ली। 18 प्रतिशत ब्याज पर किसान को कर्ज देकर ऋणग्रस्त बनाया गया। श्री शिवराजसिंह चौहान ने किसानों को जीरो प्रतिशत ब्याज पर कर्ज देकर खुशहाली का मार्ग प्रशस्त किया है। मंदी के दौर में मध्यप्रदेश सरकार ने भावांतर योजना आरंभ करके किसानों को आर्थिक सुरक्षा प्रदान की है। भावांतर के रूप में चार हजार करोड़ रूपए किसानों के खाते में जमा होंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार ने महिला सशक्तिकरण के लिए महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण स्थानीय निकायों में देकर उनमें आत्मविश्वास जगाया है। सरकारी नौकरियों में महिलाओं को (शिक्षिकीय पद) 50 प्रतिशत आरक्षण दिया है। पुलिस में भी 33 प्रतिशत आरक्षण दिया जा रहा है। महिलाओं को आर्थिक दृष्टि से सशक्त बनाने के लिए महिला स्वसहायता समूहों को 9 अरब रूपए की मदद दी गयी और प्रदेश में आहार पोषण का पूरा काम इन्हें सौंपा जा रहा है। इनके फेडरेशन को 5 करोड़ रूपए तक का कर्ज और भंडारण की सुविधा दिए जाने का प्रावधान किया गया है। उन्होंने कहा कि स्वसहायता समूहों को छात्र छात्राओं की यूनिफार्म बनाने का काम सौंपा जा रहा है। श्री चौहान ने कहा कि कृषकों के युवकों को स्वरोजगार उद्यमी बनाने के लिए सरकार ने खजाना खोल दिया है। भाजपा राज में हर व्यक्ति के सशक्तिकरण स्वावलंबन की राह आसान हुई है। उन्होंने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की शानदार विजय पर जनता को बधाई देते हुए कहा कि वे आने वाले उपचुनाव में कोलारस में कमल खिलाएं और क्षेत्रीय विकास का मार्ग प्रशस्त करें। प्रदेश शासन के वरिष्ठ मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने विकास यात्रा को संबोधित करते हुए कहा कि क्षेत्र की जनता भारतीय जनता पार्टी को मौका दें जो विकास पिछले 5 वर्षो में नहीं हुआ उसे 6 माह में करके दिखायेंगे। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की कथनी और करनी में अंतर नहीं है। जिला अध्यक्ष श्री सुशील रघुवंशी ने भी विकास यात्रा को संबोधित किया। इस अवसर पर किसान मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष श्री रणवीर सिंह रावत, पूर्व विधायक श्री ओमप्रकाश खटीक, श्री देवेन्द्र जैन, श्री नरेन्द्र बिरथरे, श्री वीरेन्द्र रघुवंशी, श्री सुरेन्द्र शर्मा सहित जिला पदाधिकारी उपस्थित थे।
मुगालता पालने के बजाए कांग्रेस अपनी पराजय के कारणों का मंथन करें : डॉ. विजयवर्गीय
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के मुख्य प्रदेश प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष श्री राहुल गांधी भूल रहे है कि गुजरात में भारतीय जनता पार्टी को 49 प्रतिशत वोट मिले है इतना प्रतिशत कांग्रेस को आजादी के बाद आज तक किसी राज्य में नहीं मिला। फिर भारतीय जनता पार्टी की सरकार गुजरात में 22 वर्षो से है और गुजरात की जनता ने गुजरात की अस्मिता की खातिर फिर जनादेश देकर कांग्रेस को ठुकराया है। भारतीय जनता पार्टी को 22 वर्ष के बाद जनता जनादेश देती है लेकिन हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस से जनता का मोहभंग हो गया और पांच वर्षों में ही उसे रूखसत कर दिया जाता है, इससे भारतीय जनता पार्टी की विश्वसनीयता अपने आप प्रमाणित हो जाती है। उन्होंने कहा कि गुजरात के चुनाव में वोट प्रतिशत की दृष्टि से भाजपा का डेढ़ प्रतिशत वोटों में वृद्धि हुई है। वही कांग्रेस के वोटों में इससे एक प्रतिशत अधिक वोट पड़े है। वास्तव में कांग्रेस के समर्थन में बढ़े वोटों के पीछे जातिवादी फैक्टरों का ही योगदान है। हार्दिक पटेल ने पाटीदारों का धु्रवीकरण किया। अल्पेश ठाकुर ने पिछड़ों और जिग्नेश मेवानी ने दलितों का धु्रवीकरण करने के लिए जी तोड़ कोशिश की लेकिन प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और श्री अमित शाह की लोकप्रियता उनके विकासवाद और राष्ट्रवाद की प्रशंसा करना पड़ेगी कि उसने जातिवादी राजनीति के पंख कतर दिए और गुजरात में जनादेश हासिल कर लिया। डॉ. विजयवर्गीय ने कहा कि गुजरात चुनाव में श्री राहुल गांधी ने दर्जनों मंदिरों में जाकर दर्शन किए। अपने को हिन्दुत्व से जोड़ने के लिए जनेऊ पहना लेकिन गुजरात की जनता ने असली हिन्दुत्व के सामने श्री राहुल गांधी के प्रदर्शन को ठुकरा दिया। उन्होंने कहा कि समाजवाद के प्रवर्तक डॉ. राममनोहर लोहिया कहते थे कि सत्ता पर पकड़ गांव, गरीब, पिछड़ों की रहना चाहिए। शक्तिशाली और सामंतवादी जातियां लोकतंत्र में जनता का शोषण करती है। श्री नरेन्द्र मोदी समाजवादी भले ही न हो, वे ठेठ राष्ट्रवादी है। लेकिन उन्होंने समाजवादी डाॅ. लोहिया के इस मंत्र को अपना कर्म बना डाला और जातिवादी राजनीति को माकूल जवाब दिया।
बिजली पंचायत, ग्राम पंचायत स्तर पर सत्ता का अनूठा विकेन्द्रीकरण: कोठारी
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता श्री राहुल कोठारी ने कहा कि मध्यप्रदेश में निरन्तर सत्ता के विकेन्द्रीकरण की दिशा में कदम बढ़ते जा रहे हैं। राज्य सरकार ने प्रशासकीय कार्य को जनोन्मुखी बनाने के लिए प्रक्रिया का सरलीकरण किया है। लोक सेवा गारन्टी योजना में राशन कार्ड, जाति प्रमाण-पत्र, आय प्रमाण-पत्र जैसे कार्यों को आसान बना दिया है। कोठारी ने कहा कि बिजली आज आम आदमी की जिन्दगी का अटूट हिस्सा बन चुकी है, लेकिन बिजली कनेक्शन, गुणवत्तापूर्ण नियमित पूर्ति, बिजली के बिलों में गड़बड़ियों जैसे कार्यों को उपभोक्ताओं को टेबलों के चक्कर न लगाने पड़े इसलिए राज्य सरकार ने नियमित रूप से प्रदेश की सभी 23040 ग्राम पंचायतों में बिजली पंचायत लगाने के आदेश दिये हैं और जल्दी ही ग्रामीण जनता, किसानों, मजदूरों की बिजली संबंधी समस्याओं को ग्राम पंचायत में ही समाधान किया जायेगा। बिजली बिलों के लिये मीटर रीडिंग, बिल बनाने जैसे कार्यो के लिए उपभोक्ताओं को बिजली दफ्तर के चक्कर लगाना पड़ते हैं। बिजली पंचायत होने से अब बिजली के बारे में कोई भी शिकायत इन पंचायतों में की जायेगी और मौके पर समाधान भी निकाला जायेगा। आपकी सरकार आपके द्वार की कहावत चरितार्थ होगी। राज्य सरकार ने व्यवस्था की है कि ग्राम पंचायत में होने वाली बिजली पंचायत में बिजली विभाग वितरण केंद्र का इंजीनियर, लाइन मेन उपस्थित रहेगा। जिले के कलेक्टर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी इन पंचायतों पर निगाह रखेंगे और नियमित समीक्षा भी करेंगे। समन्वय को अधिक उपयोगी बनायेंगे। इस व्यवस्था से ग्रामीण जनता विशेषकर काश्तकारों को विशेष लाभ होगा और उन्हें फसल के मौसम में अपना काम छोड़कर जिला और संभागीय अधिकारियों से गुहार नहीं लगाना पड़ेगी। रबी फसल की बोवनी के बाद सिंचाई के लिए बिजली की आवश्यकता होगी। बिजली ग्राम पंचायत से अब किसानों को मीटर लेने, बिजली आपूर्ति सुनिश्चित कराने में निश्चित रूप से आसानी होगी।
भारतीय महिलाओं ने भूतल, जल और नभ में भी धूम मचाई : बघेल
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश उपाध्यक्ष श्रीमती रंजना बघेल ने कहा कि महिलाओं ने देश के सैन्य और सुरक्षा मोर्चा पर कमान संभाल ली है। फौज, बीएसएफ और नेवी में महिलाओं की भूमिका बढ़ गयी है। भारतीय नभ सेना में भी महिलाएं पायटल की भूमिका में आ गयी है। दिलचस्प यह है कि पायलट के रूप में आज भारतीय महिला पायलटों की संख्या दुनिया में सबसे अधिक है। उन्होंने कहा कि एयर इंडिया में ही नहीं भारतीय नभ सेना में भी महिला पायलटों की संख्या अधिक है। हाल ही में एक समारोह में नागरिक उड्डयन मंत्री श्री जयंत सिन्हा और भारतीय एयरफोर्स के चीफ मार्शल ने भी महिलाओं को बधाई देते हुए उनके योगदान की भूरि भूरि प्रशंसा की है।
महिला सशक्तिकरण में मध्यप्रदेश देश का अव्वल राज्यः ऐलकर
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती लता ऐलकर ने कहा कि महिलाओं को स्थानीय निकायों में 50 प्रतिशत आरक्षण देकर मध्यप्रदेश देश में अग्रणी राज्य बना है। प्रदेश के नगर निगमों, नगर परिषदों और पंचायती राज संस्थाओं में आज महिलाओं का प्रतिनिधित्व 50 से बढ़कर 56 प्रतिशत हो गया है। महिलाओं में नेतृत्व क्षमता का विकास हुआ है और आत्मविश्वास बढ़ा है। उन्होंने कहा कि महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण के लिए महिला स्वसहायता समूहों को कारोबार के लिए नौ अरब रूपयों की मदद दी है। प्रदेश में गर्भिणी माताओं, महिलाओं, आगंनवाड़ियों और मध्यान्ह भोजन में लगने वाले आहार का ठेका भी स्वसहायता समूहों में ही दिया जा रहा है। इसके लिए कारखाना लगाने के लिए महिला स्वसहायता समूहों के फेडरेशन को 5 करोड़ रूपए तक का कर्ज, भंडारण की व्यवस्था भी सरकार कर रही है। हाल में मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि शालाओं में छात्राओं और छात्रों की यूनिफार्म तैयार करने का कार्य भी महिला स्वसहायता समूहों को दिया जा रहा है। बालिकाओं के साथ दुष्कर्म करने वाले नर पिशाचारों को फांसी देने का दंड विधान संशोधन पारित करने वाला देश का पहला राज्य है। श्रीमती ऐलकर ने कहा कि राज्य की सेवाओं में भी महिलाओं को आरक्षण देकर भाजपा ने महिला सशक्तिकरण किया है। शिक्षा विभाग में 50 प्रतिशत पुलिस में 33 प्रतिशत आरक्षण देकर महिलाओं को सशक्त बना दिया है। प्रदेश में 5 करोड़ 2 लाख से अधिक मतदाता है जिनमें महिला मतदाताओं की संख्या 2 करोड़ 63 लाख है। नर्मदा यात्रा के साथ एकात्म यात्रा में भी महिलाएं बढ़ चढ़कर भाग ले रही है। यह यात्रा महिलाओं के सांस्कृतिक अभ्युदय में सहायक सिद्ध होगी।


aaभारत रत्न अटलजी के जन्मदिवस को सुशासन एवं सेवा दिवस के रूप में मनाया जायेगा: चौहान


18-Dec-2017

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमारसिंह चौहान ने बताया कि भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटलबिहारी वाजपेयी जी के जन्मदिवस 25 दिसंबर को ‘‘सुशासन एवं सेवा दिवस’’ के रूप में मनाया जायेगा। उन्होंने बताया कि जिला मुख्यालयों पर राष्ट्रीय सुशासन दिवस पर ‘‘सुशासन और भाजपा’’ विषय पर संगोष्ठी का आयोजन होगा। संगोष्ठी में केन्द्र सरकार और प्रदेश सरकार की सुशासन परक नीतियों पर चर्चा की जायेगी। किसान मोर्चा द्वारा किसानों के हित में श्री अटलबिहारी वाजपेयी के शासनकाल में शुरू की गयी महत्वपूर्ण योजनाएं किसान के्रडिट कार्ड, फसल बीमा योजना, बिजली एक्ट 2003, सिंचाई परियोजनाओं का विस्तार और निवेश, प्रधानमंत्री सड़क योजना के संदर्भ में मंडल स्तर पर सम्मेलन, प्रदर्शनी, चैपाल सहित अन्य कार्यक्रमों का आयोजन होगा। श्री चौहान ने बताया कि युवा मोर्चा द्वारा पं. दीनदयाल उपाध्याय के व्यक्तित्व और विचारों पर आयोजित सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता में आम युवा और विद्यार्थियों को भागीदार बनाया जायेगा। सेवा बस्तियों में अनुसूचित जाति मोर्चा, अनुसूचित जनजाति मोर्चा, पिछड़ा वर्ग मोर्चा और चिकित्सा प्रकोष्ठ द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का आयोजन किया जायेगा। साथ ही श्री अटलजी के बड़े चित्र के साथ उमंग भरे उत्सव का आयोजन तथा कंबल वितरण, दवाईयो का वितरण किया जायेगा। महिला मोर्चा द्वारा भाजपा कार्यालयों में रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन होगा। मोर्चा की बहनें उत्सव गीत और भजनों के आयोजन में शामिल होगी। आईटी सेल, सोशल मीडिया द्वारा श्री अटलजी की सरकार की योजनाएं, उपलब्धियों के साथ ही वर्तमान केन्द्र व प्रदेश सरकार की उपलब्धियों पर सोशल मीडिया में जानकारी दी जायेगी। अटलजी के व्यक्तित्व से जुडे संस्मरण, कविताएं और भाषण को सोशल मीडिया से प्रचारित किया जायेगा। उन्होंने बताया कि अल्पसंख्यक मोर्चा द्वारा संभागीय मुख्यालयों पर अटलजी के जन्म उत्सव के कार्यक्रम आयोजित कर उनके स्वास्थ्य लाभ की कामना करते हुए सामूहिक दुआ की जायेगी। 28 दिसंबर को भारतीय जनता पार्टी के पितृपुरूष श्री कुशाभाऊ ठाकरे की पुण्यतिथि पर सुंदरकांड और भजन का आयोजन किया जायेगा।
महिला सशक्तिकरण का कुशल संयोजन स्वर्णिम मध्यप्रदेश के निर्माण में मील का पत्थर बनेगा: उईके
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश मंत्री और सांसद श्रीमती संपत्तिया उईके ने कहा कि महिला सशक्तिकरण का संयोजन स्वर्णिम मध्यप्रदेश के निर्माण में मील का पत्थर साबित होगा। प्रदेश के डेढ़ लाख परिवार महिला स्वसहायता समूहों से जुड़ चुके हैं। इन्हें 1900 करोड़ रू. की पूंजी बैंकों से दिलाई जा चुकी है। इस पूंजी से स्वसहायता महिला समूहों ने कुटीर उद्योग लगाकर उत्पादन भी शुरू कर दिया है, जिससे उत्पादन क्रांति के साथ रोजगार के अवसर सृजित हुए है। आगामी कार्ययोजना में पांच लाख परिवारों को महिला स्व सहायता समूहों के अंचल में लाया जायेगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान महिला स्वसहायता समूह के संरक्षक सिद्ध हुए हैं। उन्होंने स्व सहायता समूह के फेडरेशन को टेकहोम राशन उत्पादन का कार्य सौंपने का निश्चय किया है। यह कारोबार करीब 700 करोड़ रूपए का है। काम इतना बड़ा है कि फैक्टरी लगाना पड़ेगी। यह बंदोबस्त भी राज्य सरकार के प्रोत्साहन से होगा। पांच करोड़ रू. तक के कर्ज की गारन्टी सरकार लेगी। साथ ही 3 प्रतिशत ब्याज अनुदान राज्य देगा। इन समूहों द्वारा निर्मित जैविक खाद, कीटनाशक औषधि जैविक कल्चर जैसे उत्पाद सरकार स्वयं खरीदेगी। स्वसहायता समूह को नगरों, ग्रामों में बिजली बिलों की बसूली का काम सौंपा जायेगा। 6 हजार रूपए मासिक पर तैनाती भी की जायेगी। स्वसहायता समूह की सदस्य बहनों को जिला, विकासखंड, पंचायत स्तर पर प्रशिक्षण देने का प्रावधान भी राज्य सरकार ने करके महिला सशक्तिकरण की दिशा में गंभीर दायित्व का निर्वाह किया है। इसके साथ ही स्वसहायता महिला समूहों द्वारा उत्पादित उत्पाद के विपणन की कड़ी भी सरकार की सहायता, मार्गदर्शन में आगे बढ़ेगा। महिला सशक्तिकरण के इस संयोजन की संरचना को देखकर उपराष्ट्रपति श्री वैंकेय्या नायडू ने भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान स्वयं ब्रांड एम्बेसेडर सिद्ध हुए हैं।
अनुसूचित जाति मोर्चा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक गुना में
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री सूरज कैरो ने बताया कि मोर्चा की दो दिवसीय प्रदेश कार्यसमिति की बैठक जनवरी में गुना में आयोजित की जायेगी। मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री विनोद सोनकर और पार्टी के प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत बैठक के उदघाटन सत्र में भाग लेंगे। केन्द्रीय सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्री श्री थावरचन्द गेहलोत और श्री वीरेन्द्र खटीक भी बैठक को संबोधित करेंगे। दूसरे दिन पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमारसिंह चौहान मार्गदर्शन देंगे। बैठक का समापन मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान करेंगे।
प्रधानमंत्री जनकल्याण योजना प्रकोष्ठ के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य घोषित
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमारसिंह चौहान, प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत की सहमति से प्रधानमंत्री जनकल्याण योजना प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक श्री जितेन्द्र सिंह बुन्देला ने प्रकोष्ठ के प्रदेश कार्यसमिति सदस्यों की घोषणा की है। श्रीमती मधु चौहान बुरहानपुर, श्री राजेश भाटिया जबलपुर, श्री धर्मेन्द्र सिंह बेबी राजा सतना और श्री प्रकाश रतन पारखी खरगौन को प्रदेश कार्यसमिति सदस्य मनोनीत किया है।
प्रधानमंत्री जनकल्याण योजना प्रकोष्ठ के जिला संयोजक घोषित
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमारसिंह चौहान, प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत की सहमति से प्रधानमंत्री जनकल्याण योजना प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक श्री जितेन्द्र सिंह बुन्देला ने प्रकोष्ठ के जिला संयोजकों की घोषणा की है। श्री महेश शर्मा उज्जैन नगर, श्री माखन सिंह राणावत रतलाम, श्री सत्यनारायण मिश्रा सिंगरौली, श्री नीरज नापित शहडोल, श्री प्रभात चतुर्वेदी उमरिया, श्री द्वारका प्रसाद उपाध्याय अनूपपुर, श्री शरद डेकारे बालाघाट, श्री वासुदेव गुप्ता भोपाल ग्रामीण, श्री योगेश पटेल रायसेन, श्री रामनारायण विश्वकर्मा विदिशा, श्री जगन्नाथ यादव खण्डवा, श्री मनोज पाल खरगौन, श्री निखलेश गोस्वामी अलीराजपुर, श्री प्रमोद मोदी झाबुआ, श्री कमल यादव धार, श्री जगदीश नारायण त्रिवेदी उज्जैन ग्रामीण, श्री लक्ष्मण सिंह राजपूत शाजापुर, श्री विक्रम भटनागर मंदसौर, श्री प्रेमसुख पाटीदार नीमच, श्री जगन्नाथ डहरिया बैतूल, श्री भैरवप्रसाद गोले बडवानी, श्रीमती सुधारानी शर्मा देवास, श्री सुशील वर्मा ग्वालियर नगर, श्री के.के. चौरसिया ग्वालियर ग्रामीण, श्री आशुतोष शर्मा शिवपुरी, श्री राधामोहन माथुर गुना, श्री आशीष कुलश्रेष्ठ मुरैना, श्री दलवीर सिंह तोमर भिण्ड, डॉ. आशाराम अहिरवार दतिया और श्री धीरज सिंह राणा को आगर जिले का जिला संयोजक मनोनीत किया है।


aaमुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के सफलतम 12 वर्ष पूर्ण होने पर 29 नवंबर को प्रदेश भर में विकास पर्व मनाया जायेगा : चौहान


29 November 2017

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमारसिंह चौहान ने बताया कि पार्टी कार्यकर्ताओं के परिश्रम व जनता के आशीर्वाद से मध्यप्रदेश में लगातार तीसरी बार सरकार बनी है। प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान नित नए विकास के कीर्तिमानों के साथ 29 नवंबर को 12 वर्ष पूर्ण कर नया इतिहास बनायेंगे। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने 12 वर्षो में भारतीय जनता पार्टी के विचारों एवं प्रदेश की जनता के विश्वास से सेवा समर्पण और सुशासन से विकास के नए आयाम बनाए है। भारतीय जनता पार्टी 29 नवंबर को प्रत्येक जिले में विकास पर्व के रूप में मनायेगी। प्रदेश में चल रही 12 प्रमुख योजनाओं का लाभ लेने वाले प्रत्येक जिले में कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। जिसमें मुख्यमंत्री लाड़ली लक्ष्मी योजना, मुख्यमंत्री कन्यादान एवं निकाह योजना, मेधावी छात्र योजना, मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना, मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना, अटल ज्योति अभियान, मुख्यमंत्री मजदूर सुरक्षा योजना, अन्नपूर्णा योजना, मुख्यमंत्री छात्र गृह योजना, भावांतर योजना, बलराम ताल योजना, महिला सशक्तिकरण योजना शामिल है। युवा मोर्चा 29 नवंबर को संध्या रोशनपुरा चौराहा पर शाम 6 बजे 12 दीए विकास के आलोकित कर मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान को सौपेंगे और अबकी बार 200 पार का संकल्प लिया जायेगा। प्रदेश के सभी स्थानीय निकाय के प्रत्येक वार्ड में एक साथ स्वच्छता सेवा दिवस के रूप में मनाया जायेगा तथा स्वच्छता सेवकों (सफाई कर्मियों) का सम्मान किया जायेगा। कार्यक्रमों में मोर्चा, प्रकोष्ठों, विभागों एवं प्रकल्पों की सहभागिता सुनिश्चित होगी। सम्मेलन,संगोष्ठी और लाभार्थी सम्मान कार्यक्रमों में पार्टी के संभाग प्रभारी, संभागीय मुख्यालय एवं जिला प्रभारी जिला कार्यक्रम में उपस्थित रहेंगे। जिला स्तर पर युवा मोर्चा द्वारा मेधावी छात्र सम्मेलन एवं मेधावी छात्र योजना के लाभार्थी छात्रों का सम्मान समारोह आयोजित होंगे।
भारतीय जनता युवा मोर्चा का पंचायत स्तर तक संगठनात्मक विस्तार प्रतियोगिता में 30 लाख युवा भाग लेंगे: पाण्डे
भोपाल। भारतीय जनता युवा मोर्चा का पहली बार 23040 ग्राम पंचायतों तक संगठनात्मक विस्तार होगा। भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री अभिलाष पाण्डे ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए बताया कि 30 नवंबर को मोर्चा की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक का उदघाटन मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान प्रातः 10 बजे करेंगे। पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री प्रभात झा के मार्गदर्शन के बाद सत्रों में अनेक विषयों पर चर्चा होगी। मोर्चा के कार्यो की समीक्षा के साथ आगामी कार्यक्रमों पर विस्तार से विचार किया जायेगा। प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत, प्रदेश सह संगठन महामंत्री श्री अतुल राय, मोर्चा के राष्ट्रीय महामंत्री श्री सौरभ खत्री भी मार्गदर्शन करेंगे। राजनैतिक प्रस्ताव पारित किए जाने के साथ पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री नंदकुमारसिंह चौहान बैठक का समापन करेंगे। उन्होंने बताया कि पं. दीनदयाल उपाध्याय सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता का आयोजन कर तरूणाई को राष्ट्रवाद की दिशा में प्रेरित किया जायेगा। आशा है कि प्रतियोगिता में 30 लाख युवा भाग लेंगे। इसके लिए जिलेवार व्यवस्था की गयी है और जिलों में विजेताओं को पुरस्कार, प्रमाण पत्र देकर प्रोत्साहित किया जायेगा। इस प्रतियोगिता के देश विदेश के प्रतिभागी भी भाग लेंगे। प्रदेश के सभी संगठनात्मक 10 केन्द्रों से प्रतियोगिता का नियमन किया जायेगा। इस प्रतियोगिता में आयोजन में जनप्रतिनिधि रूचि लेंगे और प्रदेश के मंत्री, सांसद, विधायक भी प्रतियोगिता के अवसर पर अपनी उपस्थिति से युवा वर्ग को प्रोत्साहित करेंगे। प्रतियोगिता में पं. दीनदयाल उपाध्याय का एकात्म मानव दर्शन केन्द्र और राज्य सरकार के लोककल्याणकारी कार्यक्रम के अलावा सामान्य ज्ञान पर प्रश्न आधारित होंगे। आठवी कक्षा से बारहवीं कक्षा तक के छात्र छात्राएं तथा महाविद्यालय स्तर छात्र भी प्रतियोगी होंगे। श्री पाण्डे ने बताया कि प्रतियोगिता में शामिल छात्र छात्रा को मुख्यमंत्री से संवाद कर अपनी अपेक्षाएं बताने, मन की बात कहने का अवसर सुलभ करने की दृष्टि से पोस्टकार्ड दिया जायेगा। कार्ड मुख्यमंत्री को भेज सकेंगे। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान अपने सफल कार्यक्रम के 12 वर्ष 29 नवंबर को पूर्ण करेंगे। युवा मोर्चा 29 नवंबर को संध्या रोशनपुरा चौराहा पर शाम 6 बजे 12 दीए विकास के आलोकित कर मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान को सौपेंगे और अबकी बार 200 पार का संकल्प लिया जायेगा। इसी तरह सभी जिलों में मोर्चा कार्यकर्ता विकास के दीप जलाकर उपलब्धियों की जन-जन को अनुभूति देगा। युवा मोर्चा मिशन 2018 में चुनाव प्रचार अभियान की धुरी के रूप में कार्य करेगा। सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों में युवा मोर्चा अपनी ओर से प्रभारी मनोनीत करेगा। युवा मोर्चा युवा मतदाताओं को कमल की ओर आकर्षित करेगा। पार्टी प्रत्याशियों की विजय में मोर्चा की भूमिका निर्णायक सिद्ध होगी। युवा मोर्चा के सम्मेलन सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों में किए जायेंगे। नए मतदाताओं का इन सम्मेलनों में सम्मान कर उन्हें भाजपा की रीति नीति से अवगत कराया जायेगा।
प्रधानमंत्री के प्रति तेजप्रताप यादव की अमर्यादित भाषा निदंनीय : डॉ. विजयवर्गीय
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के मुख्य प्रदेश प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय ने कहा कि प्रधानमंत्री राष्ट्र के गौरव और सम्मान होने के नाते उनकी गरिमा होती है। वह राष्ट्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। उनकी प्रतिष्ठा और गरिमा के प्रतिकूल भाषा का उपयोग न तो उचित है और न इसे राजनीतिक संगति माना जा सकता है। इस दृष्टि से राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालूप्रसाद यादव के सुपुत्र तेजप्रताप यादव ने जिस तरह प्रधानमंत्री के लिए अमर्यादित भाषा का उपयोग किया है उससे राजनीति में आई गिरावट का सबूत मिलता है। प्रधानमंत्री के प्रति तेजप्रताप यादव की अशोभनीय भाषा निदंनीय है। कांग्रेस बिहार में लालूप्रसाद यादव और गुजरात में भी ऐसे तत्वों पर निर्भर होकर रह गयी है जिनका सामाजिक शिष्टाचार, सौम्यता और राजनैतिक सहिष्णुता से कभी कोई सरोकार नहीं रहा। साथ ही जब श्री राहुल गांधी ओछे शब्दों का प्रयोग राजनीति के महानुभावों के लिए करेंगे तो उनके सहयोगियों से क्या उम्मीद की जा सकती है। श्रीमती सोनिया गांधी मोदीजी को मौत का सौदागर बता सकती है तो तेजप्रताप सिंह, हार्दिक पटेल से क्या उम्मीद की जा सकती है। उन्होंने कहा कि लालूप्रसाद यादव की सुरक्षा कम किया जाना सुरक्षा विभाग का विषय है। इसे हत्या की साजिश बताना तेजप्रताप यादव की ओछी मानसिकता का सबूत है। उन्होंने कहा कि तेजप्रताप यादव की इस तरह अशोभनीय भाषा कोई आकस्मिकता नहीं है। इसके पहले भी वे बिहार के उपमुख्यमंत्री श्री सुशील मोदी के खिलाफ अमर्यादित भाषा का उपयोग कर चुके है। इससे लालूप्रसाद यादव परिवार की आपराधिक मानसिकता का सबूत मिलता है। इसे भारतीय राजनीति के गिरते स्तर का सबूत ही माना जायेगा जो निराशाजनक है। डॉ. विजयवर्गीय ने कहा कि लोकतंत्र में जीत हार स्वाभाविक है। सत्ता आती जाती रहती है, लेकिन इसे विनम्रता से आत्मसात करने की भारत की दीर्घ परंपरा रही है लेकिन जिस तरह राजनैतिक स्पर्धा को कटुतापूर्ण व्यवहार और आचरण का रूप दिया जा रहा है वह घोर निदंनीय है। हमें अपनी भाषा, व्यवहार में मर्यादा का ध्यान रखना होगा। अन्यथा जनता ही इसका जवाब देगी।
प्रलेखन एवं ग्रंथालय विभाग के स्वाध्याय मंडल की संगोष्ठी संपन्न
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश कार्यालय पं. दीनदयाल परिसर स्थित नानाजी देशमुख वाचनालय में प्रलेखन एवं ग्रंथालय विभाग के स्वाध्याय मंडल में पं. दीनदयाल उपाध्याय, नानाजी देशमुख एवं सरदार वल्लभभाई पटेल के जीवन वृत्त पर केन्द्रित पुस्तकों पर चर्चा की गयी। कार्यक्रम में विभाग के प्रदेश संयोजक श्री अनिल सप्रे, श्री शिशिर सप्र्रे, श्री राजेन्द्र दीक्षित, श्री नीरव प्रधान सहित अन्य पदाधिकारियों ने महापुरूषों की पुस्तकों के बारे में विचार रखे। उक्त अवसर पर श्रीमती तपन तोमर, श्री गीत धीर, श्री योगेश परमार, श्री सुनील तिवारी, श्री बृजेश मिश्र, श्री भूपेश भार्गव सहित कार्यकर्ता मौजूद थे।
जनजाति समुदाय के महापुरूषों की शहादत का पुण्य स्मरण करने की भव्य तैयारियां: पटेल
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री गजेन्द्रसिंह पटेल ने बताया कि मोर्चा 4 दिसंबर को बडौदा अहीर (जिला खण्डवा) में क्रांतिवीर टंट्या भील के बलिदान दिवस पर भव्य कार्यक्रम आयोजित करेगा। शहादत दिवस पर मोर्चा जिलों में भी क्रांतिवीर टंट्या भील का स्मरण कर उनके योगदान पर संगोष्ठी आयोजित करेगा। 4 दिसंबर से आदिवासी बाहुल्य जिलों और विधानसभा क्षेत्रों में टंट्या भील खेल प्रतियोगिताएं आयोजित की जायेगी जिसका समापन 25 दिसंबर को पं. अटलबिहारी वाजपेयी के जन्मदिवस पर होगा। उन्होंने बताया कि क्रांतिवीर टंट्या भील, भीमा नायक, शंकर शाह, रघुनाथ शाह, रानी दुर्गावती, कमलाबाई जैसी हस्तियों की जयंती एवं शहादत दिवस पर मोर्चा इनके स्मारकों पर मेला आयोजित करेगा। सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जायेंगे। उन्होंने बताया कि आगामी फरवरी माह में प्रदेश में जनजाति युवकों के सम्मेलन आयोजित होंगे। पांच संभागों में इसकी तैयारियां आरंभ कर दी गयी है। इंदौर, उज्जैन, जबलपुर, शहडोल और नर्मदापुरम संभागों के जिलों में इसके लिए जिला प्रभारी मनोनीत किए गए है। इसी के साथ अनुसूचित जनजाति प्रतिनिधियों के सम्मेलन 25 जिलों में किए जाना है। ये सम्मे