Untitled Document


register
REGISTER HERE FOR EXCLUSIVE OFFERS & INVITATIONS TO OUR READERS

REGISTER YOURSELF
Register to participate in monthly draw of lucky Readers & Win exciting prizes.

EXCLUSIVE SUBSCRIPTION OFFER
Free 12 Print MAGAZINES with ONLINE+PRINT SUBSCRIPTION Rs. 300/- PerYear FREE EXCLUSIVE DESK ORGANISER for the first 1000 SUBSCRIBERS.

   >> सम्पादकीय
   >> राजधानी
   >> कवर स्टोरी
   >> विश्व डाइजेस्ट
   >> बेटी बचाओ
   >> आपके पत्र
   >> अन्ना का पन्ना
   >> इन्वेस्टीगेशन
   >> मप्र.डाइजेस्ट
   >> मध्यप्रदेश पर्यटन
   >> भारत डाइजेस्ट
   >> सूचना का अधिकार
   >> सिटी गाइड
   >> अपराध मिरर
   >> सिटी स्केन
   >> जिलो से
   >> हमारे मेहमान
   >> साक्षात्कार
   >> केम्पस मिरर
   >> फिल्म व टीवी
   >> खाना - पीना
   >> शापिंग गाइड
   >> वास्तुकला
   >> बुक-क्लब
   >> महिला मिरर
   >> भविष्यवाणी
   >> क्लब संस्थायें
   >> स्वास्थ्य दर्पण
   >> संस्कृति कला
   >> सैनिक समाचार
   >> आर्ट-पावर
   >> मीडिया
   >> समीक्षा
   >> कैलेन्डर
   >> आपके सवाल
   >> आपकी राय
   >> पब्लिक नोटिस
   >> न्यूज मेकर
   >> टेक्नोलॉजी
   >> टेंडर्स निविदा
   >> बच्चों की दुनिया
   >> स्कूल मिरर
   >> सामाजिक चेतना
   >> नियोक्ता के लिए
   >> पर्यावरण
   >> कृषक दर्पण
   >> यात्रा
   >> विधानसभा
   >> लीगल डाइजेस्ट
   >> कोलार
   >> भेल
   >> बैरागढ़
   >> आपकी शिकायत
   >> जनसंपर्क
   >> ऑटोमोबाइल मिरर
   >> प्रॉपर्टी मिरर
   >> सेलेब्रिटी सर्कल
   >> अचीवर्स
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> जीवन दर्शन
   >> कन्जूमर फोरम
   >> पब्लिक ओपिनियन
   >> ग्रामीण भारत
   >> पंचांग
   >> रेल डाइजेस्ट
 
jansampark



कर्मठ और विकास प्रिय हमारे प्रधानमंत्री श्री मोदी
Our Correspondent :18 September 2017
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र जी मोदी की 17 सितंबर को जन्म वर्षगांठ पर हार्दिक बधाई। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने भारत को समग्र विकास, स्वच्छता, स्वच्छ पर्यावरण, शिक्षा, संचार, स्वास्थ्य और स्वालम्बन में नई पहचान देने का कार्य किया है। इसके साथ ही उन्होंने भारत को विश्व में नई गरिमामय पहचान दिलाने वाले कर्मठ प्रधानमंत्री के रूप में भी अपनी पहचान बनायी है। यह एक महत्वपूर्ण संयोग है कि प्रधानमंत्री श्री मोदी की ही तरह कर्मशील विकासप्रिय व्यक्ति के रूप में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भी अलग पहचान बनाई है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान भी बतौर मुख्यमंत्री श्री मोदी की तरह राज्य के सर्वांगीण विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं। श्री मोदी ने गुजरात को विकास का उदाहरण बना दिया। यही कार्य मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री श्री चौहान कर रहे हैं। यह मध्यप्रदेश का सौभाग्य है कि प्रधानमंत्री श्री मोदी की तरह मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पं. दीनदयाल उपाध्याय के अन्त्योदय के विचार को क्रियान्वित किया है। इस समय देश और प्रदेश दोनों जगह सक्षम और समर्थ नेतृत्व जनता के कल्याण के लिए सजग और सक्रिय है। मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 17 सितंबर को स्वच्छता के लिए श्रमदान का आव्हान कर जनता को प्रेरित किया है कि प्रधानमंत्री श्री मोदी का जन्म दिवस सेवा दिवस के रूप में मनाया जाए। जब प्रधानमंत्री श्री मोदी ने प्रधानमंत्री पद का दायित्व संभाला था तब देश की क्या स्थिति थी, यह किसी से छिपा नहीं है। एक व्यापक दृष्टि और राष्ट्र के कल्याण को एक उद्देश्य मानकर कार्य करने वाले प्रधानमंत्री श्री मोदी ने देश के समस्याओं को बहुत नजदीक से देखा है। दरअसल उन्होंने जनता के नब्ज टटोली है और उसके अनुसार ही अपनी कार्य योजना बनाकर कदम आगे बढ़ाए है। उन्होंने आम व्यक्ति के जीवन स्तर को सुधारने के लिए जिन योजनाओं की कल्पना की उन्हें जमीन पर उतारने के लिए उतने ही ठोस प्रयास भी किए। उदाहरण के लिए प्रधानमंत्री उज्जवला योजना की बात की जाए। इस योजना से देश की लाखों महिलाओं को रसोई गैस की सुविधा उपलब्ध करवायी गई है। इसके पहले शहरी और ग्रामीण महिलाएं चूल्हे के धुएं से परेशान होकर स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करने को विवश होती थीं। आज उनके जीवन में कम से कम प्रदूषण रहित वातावरण में कार्य करना संभव हो सका है। इसी तरह हर व्यक्ति के लिए आवास और गाँव तक पक्की सड़कों के निर्माण की दिशा में किए गए सशक्त प्रयास भारत को समृद्धि का नया मार्ग उपलब्ध करवा रहे हैं। वस्तु एवं सेवाकर की नई व्यवस्था से देश में एक कर प्रणाली लागू करने जैसे क्रांतिकारी कदम उठाकर अर्थ व्यवस्था को दीर्घकालिक सुधारों का लाभ दिलवाने की दूरदर्शिता प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में ही संभव थी। उन्होंने मुख्यमंत्री के रूप में भी समृद्धि के नए कदम उठाए। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह जी प्रधानमंत्री श्री मोदी की कार्यप्रणाली के अनुसार संगठन स्तर पर सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। यह देश का सौभाग्य है कि श्री मोदी और श्री शाह के परस्पर समन्वय से प्रांतों में तरक्की की जो कोशिशें आकार ले रही हैं वे साधारण श्रेणी न होकर ऐतिहासिक श्रेणी की हैं। प्रधानमंत्री श्री मोदी को उनके जन्म दिवस पर बधाई देते हुए यह कामना है कि मध्यप्रदेश सहित देश के सभी प्रदेशों में जनकल्याण की उनकी कल्पनाओं को साकार करने के लिए हम सब भी सहभागी बनें और राष्ट्र कल्याण के इस यज्ञ में अपनी आहुति जरूर दें। सेवा दिवस के रूप में आज का दिन इस मायने में किसी त्यौहार से कम नहीं है। त्यौहार हमारी जिंदगी में खुशियां लाते हैं और स्वच्छता के साथ विकास के संकल्प को अमल में लाने के किए यदि सभी मिलकर हाथ बढ़ाते हैं तो यह अवसर किसी त्यौहार में मिलने वाली बड़ी खुशी से कम नहीं है।


जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र हिन्दी पत्रकारिता दिवस समारोह में शामिल हुए
Our Correspondent :30 May 2017
जनसंपर्क, जल-संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज हिन्दी पत्रकारिता दिवस पर माधवराव सप्रे स्मृति समाचार-पत्र संग्रहालय एवं शोध संस्थान में अलंकरण समारोह में बतौर मुख्य अतिथि हिस्सा लिया। मंत्री डॉ. मिश्र ने समारोह में पत्रकार श्री विजय मनोहर तिवारी को माधवराव सप्रे पुरस्कार और कला समीक्षक श्री विनय उपाध्याय को महेश सृजन सम्मान से सम्मानित किया। अध्यक्षता प्रधान आयकर निदेशक मध्यप्रदेश डॉ. राकेश कुमार पालीवाल ने की। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा कि संग्रहालय के कार्यक्रम सार्थक और उत्साहवर्धक होते हैं। सम्मानित हुए पत्रकार और लेखक अपने क्षेत्र में समर्पित भाव से कार्य कर रहे हैं। डॉ. मिश्र ने श्री तिवारी और श्री उपाध्याय को बधाई दी। संग्रहालय के संस्थापक-संयोजक श्री विजयदत्त श्रीधर ने डॉ. नरोत्तम मिश्र का पुष्प-गुच्छ और शाल से स्वागत किया। श्री राकेश पाठक ने संग्रहालय की गतिविधियों की जानकारी दी। श्री राकेश दीक्षित ने आभार माना। इस अवसर पर राजधानी के वरिष्ठ पत्रकार, लेखक, पत्रकारिता के शोधार्थी उपस्थित थे।


जनसंपर्क मंत्री ने किया मैथिलीशरण गुप्त धर्मशाला का भूमि-पूजन
Our Correspondent :17 April 2017
जनसंपर्क, जल-संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज दतिया जिले की नगर पंचायत बडौनी में गहोई वैश्य समाज की धर्मशाला का भूमि-पूजन किया।
धर्मशाला का नाम राष्ट्रकवि दादा मैथिलीशरण गुप्त के नाम पर रखा गया है। मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा कि जहाँ संगठन और एकता नहीं वहाँ समाज एवं व्यक्तियों में समन्वय नहीं बैठता।
संगठित समाज ही तस्वीर बदलते हैं। उन्होंने इस अवसर पर धर्मशाला की बाउण्ड्री वाल के लिए पाँच लाख रुपये देने की घोषणा की। अन्य जन-प्रतिनिधियों ने भी संबोधित किया।


जनसंपर्क मंत्री ने दैनिक भास्कर समूह के प्रमुख श्री रमेशचंद्र अग्रवाल के निधन पर दुख व्यक्त किया
Our Correspondent :12 April 2017
जनसम्पर्क, जल-संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दैनिक भास्कर समाचार-पत्र समूह के प्रमुख श्री रमेशचंद्र अग्रवाल के अवसान पर दुख व्यक्त किया है। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा कि श्री अग्रवाल ने हिन्दी पत्रकारिता के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। देश में जब अंग्रेज अखबारों के श्रंखलाबद्ध प्रकाशन होते थे उस दौर में उन्होंने हिन्दी दैनिक का विस्तार करते हुए राष्ट्र भाषा के प्रचार को भी बल दिया। जनसंपर्क मंत्री ने कहा कि स्व. श्री अग्रवाल ने पत्रकारिता के माध्यम से समाज हित में अपने दायित्वों का निर्वहन किया। श्री अग्रवाल हँसमुख स्वभाव के व्यक्ति थे। उन्होंने समाज-सेवा के कार्यों में भी अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया। उनकी सेवाओं को भुलाया नहीं जा सकता।
जनसंपर्क मंत्री ने ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति और उनके शोकाकुल परिवार को इस दुख को सहने की शक्ति देने की प्रार्थना की है।
पुष्प चक्र अर्पित
जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने स्व. श्री रमेशचंद्र अग्रवाल की पार्थिव देह अहमदाबाद से आज शाम भोपाल के स्टेट हैंगर पहुँचने पर पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।


डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दी उत्तरप्रदेश के नये मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ को बधाई
Our Correspondent :20 March 2017
जनसंपर्क, जल-संसाधन तथा संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के साथ लखनऊ में उत्तरप्रदेश के नये मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लिया।
जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री को बधाई देते हुए उन्हें इस दायित्व के निर्वहन में सफल होने की शुभकामनाएँ दीं। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने शपथ ग्रहण समारोह में आए अनेक राष्ट्रीय नेताओं से भी भेंट की।
अशोक मनवानी



Metro Mirro जनसम्पर्क हस्ती एन. डी. राजपाल नही रहे : पी. आर. सी. आई के फाउंडर अध्यक्ष थे।
पब्लिक रिलेशन कांउसिल ऑफ़ इंडिया के फाउंडर अध्यक्ष और जनसम्पर्क के महारथी श्री एन. डी. राजपाल ने दिल्ली के अस्पताल में अंतिम सांस ली। श्री राजपाल एन डी टीवी की इकॉनामिक एडिटर और जानी मानी एंकर श्वेता राजपाल के पिता है।

पब्लिक रिलेशन कांउसिल ऑफ़ इंडिया के पितामह श्री राजपाल को खोकर हम बहुत दुखी है -

एम बी जयराम, मेंटर , पी आर सी आई

श्री एन. डी. राजपाल जनसम्पर्क की जानी मानी हस्ती और एक अच्छे इंसान थे। पी. आर. सी. आई उन्हें कभी नही भूल पायगी।
बी एन कुमार , राष्ठ्रीय अध्यक्ष, पी. आर. सी. आई

पी. आर. सी. आई , मीडिया और जनसम्पर्क जगत क लिए श्री एन. डी. राजपाल को खोना सदमे की तरह है। श्री राजपाल जनसम्पर्क के बहादुर विद्वान और नेक दिल इंसान थे।
शिवहर्ष सुहालका डायरेक्टर (मीडिया) पी. आर. सी. आई और प्रधान संपादक मेट्रोमिरर डॉट कॉम




नागरिकों ने ली वातावरण स्वच्छ रखने की जिम्मेदारी
Our Correspondent :3 December 2016
जनसंपर्क, जल संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने स्वच्छता अभियान में दतिया नगर के मुख्य मार्ग पर नागरिकों के लिए एक हजार डस्टबिन वितरित करवाईं। स्वच्छता अभियान को समर्थन देते हुए व्यापारियों और नागरिकों ने खुद अपने आसपास का परिवेश स्वच्छ रखने की जिम्मेदारी ली है। आज समारोह में जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्रा ने माँ पीताम्बर पीठ के पास स्थानीय बाजार में सड़कंन और गलियाँ साफ-सुधरी रखने के लिए एक हजार डस्टबिन वितरित की। नगर पालिका के सफाई कर्मचारियों को भी ट्रालियाँ प्रदान की गई। कार्यक्रम में नगर पालिका दतिया के अध्यक्ष श्री सुभाष अग्रवाल, जिला अंत्योदय समिति के उपाध्यक्ष श्री रामजी खरे सहित अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे

पत्रकारिता और साहित्य का अनूठा केन्द्र हैं सप्रे संग्रहालय

Our Correspondent :29 September 2016
जनसंपर्क, जल संसाधन तथा संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने आज माधवराव सप्रे समाचार पत्र संग्रहालय पहुँचकर संग्रहीत पुराने समाचार-पत्र, पत्रिकाओं और अन्य महत्वपूर्ण साहित्य सामग्री और दस्तावेज का अवलोकन किया। मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि यह संग्रहालय एक विशिष्ट धरोहर की रक्षा और उससे नई पीढ़ी को अवगत करवाने का महत्वपूर्ण काम कर रहा है। यह संग्रहालय ज्ञान का अदभुत सागर और अनूठा केन्द्र है। अन्य संस्थाओं के लिए भी इस केन्द्र का काम अनुकरणीय है। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्रा को संग्रहालय के संबंध में जानकारी देते हुए श्री विजय दत्त श्रीधर ने बताया कि 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम से लेकर 1947 के स्वतंत्रता संग्राम तक समाचार-पत्रों द्वारा देश की आज़ादी के लिए जनता में जागृति लाने संबंध सामग्री का भी संकलन किया गया है। इसके अलावा प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं की दुर्लभ प्रतियाँ, अनेक लेखकों की मूल पांडुलिपियाँ भी संग्रहालय में सहेजी गई हैं। अनेक पुराने गजट, जिलों के गजेटियर और ग्रंथ इस संग्रहालय में व्यवस्थित रखे गए हैं। वर्ष 1984 में संग्रहालय ने आकार लेना प्रारंभ किया था। इस समय यह देश में अपनी तरह का अनोखा संग्रहालय बन चुका हैं। लाखों लोग संग्रहालय का अवलोकन कर चुके हैं। विद्यार्थियों और शोधार्थियों के लिए यह संग्रहालय इसलिए महत्व रखता है क्योंकि एक स्थान पर शोध सामग्री उपलब्ध हो जाती है। अनेक साहित्य प्रेमी और पत्रकार समय-समय पर संग्रहालय आकर वांछित सामग्री का अवलोकन भी करते हैं। संग्रहालय द्वारा पत्रकारिता से संबंधित अनेक प्रकाशन भी किए गए हैं। मंत्री डॉ. मिश्रा ने श्री श्रीधर को इस संग्रहालय के संचालन और प्रबंधन के लिए बधाई दी। मंत्री डॉ. मिश्रा ने संग्रहालय के विभिन्न खण्ड का अवलोकन भी किया। र।


पब्लिक रिलेशन्स सोसायटी भोपाल के पुष्पेंद्र पाल सिंह अध्यक्ष, संजीव गुप्ता सक्रेटरी और मनोज द्विवेदी कोषाध्यक्ष बने।
Our Correspondent :16 May 2016
भोपाल। पब्लिक रिलेशन्स सोसायटी ऑफ़ इंडिया , भोपाल चेप्टर की वार्षिक साधारण सभा और चेप्टर के चुनाव आज कृषक जगत हाउस पर संपन्न हुआ। श्री पुष्पेंद्र पाल सिंह मध्य प्रदेश माध्यम के विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी, सर्वसम्मती से अध्यक्ष चुने गये। श्री संजीव गुप्ता सक्रेटरी , श्री मनोज द्विवेदी कोषाध्यक्ष और श्री के के दुबे उपाध्यक्ष बने। इस अवसर पर श्री विजय बोडिया , श्री शिवहर्ष सुहालका , श्री संजय द्विवेदी और श्री संजय सीठा भी उपस्थित थे। प्रारम्भ में चेप्टर अध्यक्ष श्री संजय सीठा ने स्वागत भाषण दिया और श्री संजीव गुप्ता ने वार्षिक प्रतिवेदन पढ़ा।
श्री पुष्पेंद्र पाल सिंह ने मेट्रोमिरर को बताया की आगामी वर्षों में भोपाल चेप्टर नई ऊचाईयां छुएगा और जनसम्पर्क की विभिन्न विधाओं पर कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। font>


समग्र विकास के लिए रचनात्मक गतिविधियों का संचालन समाज-हित में
Our Correspondent :29 March 2016
भोपाल। जनसंपर्क, ऊर्जा तथा खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि किसी भी संस्था के समग्र विकास के लिए रचनात्मक गतिविधियों का संचालन समाज-हित में सार्थक है। उन्होंने कहा कि जन-अभियान परिषद द्वारा संचालित गतिविधियों के अच्छे परिणाम मिल रहे हैं। उन्होंने जन-अभियान परिषद से जुड़े कार्यकर्ताओं से राज्य सरकार की जन-कल्याणकारी योजनाओं को समाज के अंतिम छोर तक पहुँचाने में सक्रिय भूमिका निभाने की अपील की। श्री शुक्ल आज सतना में मध्यप्रदेश जन-अभियान परिषद की प्रस्फुटन समितियों और मुख्यमंत्री सामुदायिक नेतृत्व क्षमता विकास पाठ्यक्रम के छात्रों के एक-दिवसीय सम्मेलन-सह-कार्यशाला 'संवाद' को संबोधित कर रहे थे।
श्री शुक्ल ने कहा कि राज्य सरकार ने विकास और कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन के जरिये पूरे राज्य का परिदृश्य बदल दिया है। उन्होंने कहा कि केन्द्र और राज्य सरकार की योजनाएँ समाज के प्रत्येक तबके को लाभान्वित करने के लिये हैं। उन्होंने कहा कि स्वैच्छिक कार्यकर्ता कमजोर तबके को जागृत करते हुए इन योजनाओं को जरूरतमंद तक ले जाये। श्री शुक्ल ने कहा कि समृद्धशाली और शक्तिशाली भारत के निर्माण का सपना पूरा होने का समय आ गया है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की योजनाएँ एवं विकास कार्यक्रम गरीब और किसानों को केन्द्र-बिन्दु रखकर क्रियान्वित किये जा रहे हैं।
समाजसेवी श्री कृष्ण माहेश्वरी तथा परिषद के संभागीय समन्वयक श्री अमिताभ श्रीवास्तव ने भी अपने विचार रखे। इस मौके पर महापौर श्रीमती ममता पाण्डेय, परिषद के सलाहकार श्री शशिकांत मणि त्रिपाठी और जिला समन्वयक श्री प्रदीप तिवारी उपस्थित थे।

बेला-सतना फोर लेन मार्ग का निरीक्षण

श्री राजेन्द्र शुक्ल ने रीवा से सतना आते समय बेला से लेकर रामपुर, सज्जनपुर बाईपास सहित बेला-सतना फोर लेन मार्ग की प्रगति का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों तथा संविदाकार को निर्माण कार्य में गति लाने के निर्देश दिये।


जनहित के लिए सम्प्रेषण जनसंपर्क का अंतिम उद्देश्य- प्रो. कुठियाला
Our Correspondent :09 March 2016
भोपाल।जनहित के लिए सम्प्रेषण जनसंपर्क का अंतिम उद्देश्य होना चाहिए। शासन की सकारात्मक बातों को जनता के सामने लाने का प्रयास जनसंपर्क करता है। पत्रकारिता और जनसंपर्क में मुख्य अंतर यह है कि पत्रकारिता उन चीजों को प्रकट करती है जो असाधारण होती है चाहे उनमें नकारात्मकता ही क्यों न हो, जबकि जनसंपर्क सकारात्मक बातों को समाज के सामने लाता है। यह विचार आज माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय में आयोजित जनसंपर्क अधिकारियों के पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला में विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बृज किशोर कुठियाला ने व्यक्त किए।
पत्रकारिता विश्वविद्यालय में जनसंपर्क अधिकारियों पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला आज विश्वविद्यालय सभागार में प्रारम्भ हुई। प्रशिक्षण कार्यशाला का विषय 'जनसंपर्क में नवीन मीडिया का उपयोग' है। इस कार्यशाला में हिमाचल प्रदेश एवं मध्यप्रदेश जनसंपर्क अधिकारी भाग ले रहे हैं। कार्यशाला में अपने विचार रखते हुए प्रो. कुठियाला ने कहा कि आधुनिक जनसंपर्क के लिए जन इच्छा महत्वपूर्ण है। जन इच्छा या जनमत को समझने के लिए जनता से भी सीधा संवाद जरूरी है। इसके लिये मीडिया भी एक माध्यम है। मानव प्रजाति के लिए संवाद अनिवार्यता है और संवाद एवं सम्प्रेषण यदि प्रोफेशनल तरीके से किया जाए तो वह जनसंपर्क का रूप ले लेता है। आज जनसंपर्क जनता एवं शासन के बीच सेतु का कार्य करता है। हमें यह प्रयास करना चाहिए कि इस सेतु पर सूचनाओं का आवागमन दो तरफा हो अर्थात शासन की सूचनाएँ जनता तक पहुँचें और जन इच्छा से शासक वर्ग अवगत हो सके।
पिछले दस, बारह वर्षों में सूचनाओं के सम्प्रेषण में एक बड़ी क्रांति न्यू मीडिया ने की है। आज इंटरनेट आधारित सम्प्रेषण सम्बन्धों का आधार बन रहे हैं। न्यू मीडिया हमें नियंत्रित जनमाध्यम से लोकतांत्रित जनमाध्यम की ओर ले जा रहा है और यह एक प्राकृतिक प्रक्रिया है। परम्परागत जनमाध्यमों जैसे- समाचारपत्र, रेडियो, टेलीविजन, सिनेमा आदि ने नियंत्रित सम्प्रेषण की अवधारणा को विकसित किया था इसके विपरीत न्यू मीडिया ने संवाद और सम्प्रेषण की एक लोकतांत्रिक प्रक्रिया को प्रारम्भ किया है, जिसमें हर व्यक्ति अपनी बात कह सकता है। कार्यशाला में विश्वविद्यालय के कुलाधिसचिव श्री लाजपत आहूजा ने कहा कि शासन की गतिविधियों में नवीन मीडिया का प्रयोग दिनोदिन बढ़ता जा रहा है। आज ट्विीटर, फेसबुक आदि से दी गई सूचनाएँ मीडिया में महत्वपूर्ण स्थान पा रही हैं। जनसंपर्क अधिकारियों के लिए नवीन मीडिया का उपयोग अब अनिवार्य हो गया है। विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ. सच्चिदानंद जोशी ने कहा कि जनसंपर्क की सफलता द्विपक्षीय सम्प्रेषण पर आधारित होती है, जिसमें नया मीडिया का उपयोग सहायक हो सकता है। आज कार्यशाला के उद्घाटन सत्र में विभिन्न विभागों के विभागाध्यक्ष एवं शिक्षक उपस्थित थे।
कार्यशाला के दूसरे दिन मोबाईल एप्लीकेशंस, कंटेंट राईटिंग और इंटरनेट के उपयोग आदि विषयों पर विशेषज्ञों के व्याख्यान होंगे।।


पब्लिक रिलेशन सोसायटी भोपाल का ईद मिलन समारोह

पी आर सी आई का १० वां ग्लोबल कम्युनिकेशन कॉनक्लेव कोलकत्ता में संपन्न : नो निगेटिव मंडे सहित दैिनक भास्कर को मिले 11 अवॉर्ड्स
Our Correspondent :22 January 2016
दैनिक भास्कर को पीआरसीआई (पब्लिकेशन रिलेशन काउंसिल ऑफ इंडिया) कोलैटरल्स अवॉर्ड्स में 10 अवॉर्ड प्राप्त हुए हैं। इसके अलावा भास्कर को चाणक्य अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया है। इस तरह कुल 11 अवार्ड्स हासिल करने पर दैनिक भास्कर चैंपियन ऑफ चैम्पियंस के रूप में द्वितीय स्थान पर रहा।
कोलकाता में आयोजित हुई पीआरसीआई की ग्लोबल कम्युनिकेशन कॉन्क्लेव के दौरान 'हॉल ऑफ फेम इन पीआर एंड कार्पोरेट कोलैटरल्स 2016' सेरेमनी में दैिनक भास्कर को ये पुरस्कार प्रदान किए गए।
पाठकों के प्रत्येक सप्ताह को पॉजिटिव शुरुआत देने वाले अभियान नो निगेटिव मंडे को विभिन्न कैटेगरी में तीन अवॉर्ड मिले हैं। इसके आलावा सालभर आयोिजत िकए जाने वाले सामाजिक सरोकार के विभिन्न अभियानों (सीएसआर) के लिए दो अवॉर्ड मिले। जबकि भास्कर की गृह पत्रिका संवाद को प्लेटिनम अवॉर्ड प्राप्त हुआ।
दैनिक भास्कर के नो निगेटिव मंडे और सामाजिक अभियानों कंप्यूटर एजुकेशन, तिलक होली, एक पेड़ एक जिंदगी, मिट्‌टी के गणेश, सार्थक दीपावली और अन्नदान आदि को पाठकों ने बेहद पसंद किया और भरपूर सराहना की है। पीआरसीआई कोलैटरल्स में मिले अवॉर्ड्स पाठकों की इसी सराहना का नतीजा हैं।
पब्लिक रिलेशन (पीआर) में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले विभिन्न क्षेत्रों के इंडस्ट्री प्रोफेशनल्स को प्रत्येक वर्ष पीआरसीआई कोलैटरल्स अवॉर्ड्स प्रदान किए जाते हैं। जबकि चाणक्य अवॉर्ड उन लोगों या कंपनियों को प्रदान किया जाते हैं जिन्होंने विगत कुछ वर्षों में समाज एवं देश के प्रति अहम योगदान दिया है।

सोशल लीडरशिप कैटेगरी में चाणक्य अवॉर्ड प्राप्त हुआ है।
इन श्रेिणयों में िमले अवाॅर्ड

इिनशिएटिव कैटेगरी अवॉर्ड

नो निगेटिव मंडे आइडिया ऑफ द ईयर गोल्ड
नो निगेटिव मंडे कार्पोरेट एडवरटाइजिंग कैंपेन गोल्ड
नो निगेटिव मंडे सोशल मीडिया कैंपेन ऑफ द ईयर सिल्वर
संवाद हाउस जरनल प्लेटिनम

एनुअल रिपोर्ट एनुअल रिपोर्ट सिल्वर
कार्पोरेट ब्रोशर कार्पोरेट ब्रोशर ब्रोंज
डायरी-2016 डायरी-2016 स्मॉल गोल्ड
सीएसआर पब्लिक सर्विस कैंपेन सिल्वर
सीएसआर सीएसआर ब्रोंज
कार्पोरेट इवेंट बेमिसाल भोपाल ब्राॅन्ज


जनहित के लिए सम्प्रेषण जनसंपर्क का अंतिम उद्देश्य- प्रो. कुठियाला
Our Correspondent :09 March 2016
भोपाल।जनहित के लिए सम्प्रेषण जनसंपर्क का अंतिम उद्देश्य होना चाहिए। शासन की सकारात्मक बातों को जनता के सामने लाने का प्रयास जनसंपर्क करता है। पत्रकारिता और जनसंपर्क में मुख्य अंतर यह है कि पत्रकारिता उन चीजों को प्रकट करती है जो असाधारण होती है चाहे उनमें नकारात्मकता ही क्यों न हो, जबकि जनसंपर्क सकारात्मक बातों को समाज के सामने लाता है। यह विचार आज माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय में आयोजित जनसंपर्क अधिकारियों के पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला में विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बृज किशोर कुठियाला ने व्यक्त किए।
पत्रकारिता विश्वविद्यालय में जनसंपर्क अधिकारियों पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला आज विश्वविद्यालय सभागार में प्रारम्भ हुई। प्रशिक्षण कार्यशाला का विषय 'जनसंपर्क में नवीन मीडिया का उपयोग' है। इस कार्यशाला में हिमाचल प्रदेश एवं मध्यप्रदेश जनसंपर्क अधिकारी भाग ले रहे हैं। कार्यशाला में अपने विचार रखते हुए प्रो. कुठियाला ने कहा कि आधुनिक जनसंपर्क के लिए जन इच्छा महत्वपूर्ण है। जन इच्छा या जनमत को समझने के लिए जनता से भी सीधा संवाद जरूरी है। इसके लिये मीडिया भी एक माध्यम है। मानव प्रजाति के लिए संवाद अनिवार्यता है और संवाद एवं सम्प्रेषण यदि प्रोफेशनल तरीके से किया जाए तो वह जनसंपर्क का रूप ले लेता है। आज जनसंपर्क जनता एवं शासन के बीच सेतु का कार्य करता है। हमें यह प्रयास करना चाहिए कि इस सेतु पर सूचनाओं का आवागमन दो तरफा हो अर्थात शासन की सूचनाएँ जनता तक पहुँचें और जन इच्छा से शासक वर्ग अवगत हो सके।
पिछले दस, बारह वर्षों में सूचनाओं के सम्प्रेषण में एक बड़ी क्रांति न्यू मीडिया ने की है। आज इंटरनेट आधारित सम्प्रेषण सम्बन्धों का आधार बन रहे हैं। न्यू मीडिया हमें नियंत्रित जनमाध्यम से लोकतांत्रित जनमाध्यम की ओर ले जा रहा है और यह एक प्राकृतिक प्रक्रिया है। परम्परागत जनमाध्यमों जैसे- समाचारपत्र, रेडियो, टेलीविजन, सिनेमा आदि ने नियंत्रित सम्प्रेषण की अवधारणा को विकसित किया था इसके विपरीत न्यू मीडिया ने संवाद और सम्प्रेषण की एक लोकतांत्रिक प्रक्रिया को प्रारम्भ किया है, जिसमें हर व्यक्ति अपनी बात कह सकता है। कार्यशाला में विश्वविद्यालय के कुलाधिसचिव श्री लाजपत आहूजा ने कहा कि शासन की गतिविधियों में नवीन मीडिया का प्रयोग दिनोदिन बढ़ता जा रहा है। आज ट्विीटर, फेसबुक आदि से दी गई सूचनाएँ मीडिया में महत्वपूर्ण स्थान पा रही हैं। जनसंपर्क अधिकारियों के लिए नवीन मीडिया का उपयोग अब अनिवार्य हो गया है। विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ. सच्चिदानंद जोशी ने कहा कि जनसंपर्क की सफलता द्विपक्षीय सम्प्रेषण पर आधारित होती है, जिसमें नया मीडिया का उपयोग सहायक हो सकता है। आज कार्यशाला के उद्घाटन सत्र में विभिन्न विभागों के विभागाध्यक्ष एवं शिक्षक उपस्थित थे।
कार्यशाला के दूसरे दिन मोबाईल एप्लीकेशंस, कंटेंट राईटिंग और इंटरनेट के उपयोग आदि विषयों पर विशेषज्ञों के व्याख्यान होंगे।।


 
Copyright © 2014, BrainPower Media India Pvt. Ltd.
All Rights Reserved
DISCLAIMER | TERMS OF USE