Untitled Document


register
REGISTER HERE FOR EXCLUSIVE OFFERS & INVITATIONS TO OUR READERS

REGISTER YOURSELF
Register to participate in monthly draw of lucky Readers & Win exciting prizes.

EXCLUSIVE SUBSCRIPTION OFFER
Free 12 Print MAGAZINES with ONLINE+PRINT SUBSCRIPTION Rs. 300/- PerYear FREE EXCLUSIVE DESK ORGANISER for the first 1000 SUBSCRIBERS.

   >> सम्पादकीय
   >> राजधानी
   >> कवर स्टोरी
   >> विश्व डाइजेस्ट
   >> बेटी बचाओ
   >> आपके पत्र
   >> अन्ना का पन्ना
   >> इन्वेस्टीगेशन
   >> मप्र.डाइजेस्ट
   >> मध्यप्रदेश पर्यटन
   >> भारत डाइजेस्ट
   >> सूचना का अधिकार
   >> सिटी गाइड
   >> अपराध मिरर
   >> सिटी स्केन
   >> जिलो से
   >> हमारे मेहमान
   >> साक्षात्कार
   >> केम्पस मिरर
   >> फिल्म व टीवी
   >> खाना - पीना
   >> शापिंग गाइड
   >> वास्तुकला
   >> बुक-क्लब
   >> महिला मिरर
   >> भविष्यवाणी
   >> क्लब संस्थायें
   >> स्वास्थ्य दर्पण
   >> संस्कृति कला
   >> सैनिक समाचार
   >> आर्ट-पावर
   >> मीडिया
   >> समीक्षा
   >> कैलेन्डर
   >> आपके सवाल
   >> आपकी राय
   >> पब्लिक नोटिस
   >> न्यूज मेकर
   >> टेक्नोलॉजी
   >> टेंडर्स निविदा
   >> बच्चों की दुनिया
   >> स्कूल मिरर
   >> सामाजिक चेतना
   >> नियोक्ता के लिए
   >> पर्यावरण
   >> कृषक दर्पण
   >> यात्रा
   >> विधानसभा
   >> लीगल डाइजेस्ट
   >> कोलार
   >> भेल
   >> बैरागढ़
   >> आपकी शिकायत
   >> जनसंपर्क
   >> ऑटोमोबाइल मिरर
   >> प्रॉपर्टी मिरर
   >> सेलेब्रिटी सर्कल
   >> अचीवर्स
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> जीवन दर्शन
   >> कन्जूमर फोरम
   >> पब्लिक ओपिनियन
   >> ग्रामीण भारत
   >> पंचांग
   >> रेल डाइजेस्ट
  
मध्यप्रदेश डाइजेस्ट
mpinfo.org

: फीचर

बदलता मध्यप्रदेश : डॉ.एच.एल. चौधरी



डा. नरोत्तम मिश्रा, जनसंपर्क मंत्री, मध्यप्रदेश शासन : जीवन परिचय
.... More


नर्मदा सेवा कार्य का शुभारंभ 15 मई को अमरकंटक में प्रधानमंत्री और संतों की उपस्थिति में होगा
Our Correspondent :18 April 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि 15 मई को अमरकंटक में नर्मदा सेवा यात्रा के पूर्ण होने और सेवा कार्य के शुभारंभ का भव्य कार्यक्रम किया जायेगा। इसमें प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी एवं साधु-संत शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि इस ऐतिहासिक यात्रा की स्मृतियों को सहेजने के लिये एक शिलालेख लगाया जायेगा और परिक्रमा गैलरी भी बनायी जायेगी।
मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ नर्मदा सेवा कार्य के शुभारंभ की तैयारियों के संबंध में बैठक ले रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम में नर्मदा सेवा समितियों और नर्मदा तट के जिले और गाँवों की भागीदारी सुनिश्चित की जायेगी। संतों के आशीर्वाद से नर्मदा सेवा कार्य शुरू किया जायेगा। नर्मदा सेवा यात्रा की स्मृतियों को संजोने के लिये अमरकंटक में शिलालेख लगाया जायेगा। साथ ही यात्रा की विभिन्न जानकारियों की एक गैलरी भी बनायी जायेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि दो जुलाई को नर्मदा किनारे वृहद वृक्षारोपण किया जायेगा। इसमें सभी वर्गों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिये एक बेवसाइट बनायी जायेगी, जिसमें लोग पंजीयन करायेंगे। उन्होंने कहा कि किसानों के खेतों में फलदार पौध-रोपण के लिये उद्यानिकी विभाग तथा वन भूमि में वृक्षारोपण के लिये वन विभाग नोडल विभाग होंगे।
बैठक में वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार तथा विभिन्न निगम-मंडलों के अध्यक्ष और पदाधिकारी, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री अशोक वर्णवाल और श्री एस.के.मिश्रा उपस्थित थे।




हिन्दी के प्रति कुंठित मानसिकता बदलें
Our Correspondent :18 April 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने हिन्दी के प्रति कुंठित मानसिकता को बदलने की जरूरत बताई है। उन्होंने आव्हान किया है कि अंग्रेजी का ज्ञान श्रेष्ठता का प्रतीक है, इस गुलाम मानसिकता को समाप्त किया जाये। हिन्दी में काम करने पर गर्व की अनुभूति हो, ऐसा वातावरण बनायें। श्री चौहान अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे। दीक्षांत समारोह में 126 विद्यार्थियों को विद्या निधि स्नातकोत्तर एवं स्नातक प्रतिष्ठा की उपाधि प्रदान की गई। इसके साथ ही 156 विद्यार्थियों को प्रमाण-पत्र, पत्रोपाधि एवं स्नातकोत्तर पत्रोपाधि दी गईं।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि निज भाषा सब उन्नतियों का मूल है। हिन्दी के उदभट विद्वान के नाम पर देश का प्रथम हिन्दी विश्वविद्यालय प्रदेश की धरती पर है। यह गर्व का विषय है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय की सभी जरूरत को पूरा किया जायेगा। हिन्दी विश्वविद्यालय से चिकित्सा, अभियांत्रिकी आदि विश्वविद्यालयों को सम्बद्ध करवाने के प्रयास भी किये जायेंगे। उन्होंने देश-प्रदेश के विद्वानों से हिन्दी विश्वविद्यालय को सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालय की श्रेणी में खड़ा करने के लिए मार्गदर्शन और सहयोग का अनुरोध किया।‍
श्री चौहान ने कहा कि भारतीय ज्ञान, परम्परा, विज्ञान अदभुत है। जब विश्व के आधुनिक राष्ट्रों में सभ्यता के सूर्य का उदय नहीं हुआ था। उनके निवासी पत्तों-पेड़ों की छाल से तन ढँकते थे, तब-भारत के ऋषि-मुनि वेदों की ऋचाओं की रचना कर रहे थे। नालंदा और तक्षशिला जैसे विश्वविद्यालय थे, जहाँ सारी दुनिया के मनीषी अध्ययन के लिये आते थे। उन्होंने कहा कि भौतिकता की अग्नि से पीड़ित समाज को शांति का पथ प्रदर्शन भारतीय ज्ञानदर्शन से ही होगा, जो प्राणियों में सदभावना और देश के नहीं विश्व के कल्याण की कामना करता है। उन्होंने कहा कि संसाधनों की कमी प्रतिभा की उन्नति में बाधक नहीं हो,इसके लिए मुख्यमंत्री मेधावी छात्र प्रोत्साहन योजना लागू की है। इस योजना में चिकित्सा, अभियांत्रिकी, विज्ञान, कला, विधि आदि संकायों की उच्च शिक्षा में विद्यार्थियों की फीस राज्य सरकार द्वारा भरे जाने की व्यवस्था है। उन्होंने कहा कि योजना में बिना जात-पांत, धर्म-सम्प्रदाय के भेदभाव के सभी बच्चों को लाभान्वित किया जायेगा। श्री चौहान ने कहा कि ' सर्वे भवन्तु सुखिन:' का उदघोष सिर्फ भारत में हैं।
मुख्यमंत्री ने 2014-15 एवं 2015-16 की सभी परीक्षाओं में सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाली कु. स्वेच्छा मिश्रा को 'अटल स्वर्ण पदक' प्रदान किया। उन्होंने श्री नित्यानंद तिवारी को 'स्व. श्री मोतीलाल गंगादेवी छीपा स्वर्ण पदक' दिया।
मुख्यमंत्री ने स्मारिका दीक्षा, अटल संवाद, भारतीय ज्ञान परम्परा पुस्तक, सिंहस्थ-2016 का सर्वेक्षण, भारतीय ब्रह्म विज्ञान और विश्वविद्यालय के विकास कार्यों की सीडी का विमोचन किया। भारतीय ज्ञान परम्परा में योगदान के लिए स्वामी गोविंद देव गिरि को विश्वविद्यालय की प्रथम उपाधि से विभूषित किया गया।
विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरण शर्मा ने कहा कि विश्वविद्यालय के माध्यम से संस्कृति को पुर्नस्थापित करने का प्रयास किया गया है। उन्होंने कहा कि हिन्दी खत्म होगी तो संस्कृति खत्म होगी। संस्कृति खत्म होगी तो देश नहीं बचेगा।
नैतिक शिक्षा को पाठ्यक्रम में जोड़ा जायेगा
उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने दीक्षांत भाषण दिया। श्री पवैया ने कहा कि आगामी सत्र से सभी विश्वविद्यालय में दीक्षांत समारोह भारतीय परिधान में होंगे। उन्होंने आज का समारोह भारतीय परिधान में करवाने पर कुलपति की सराहना की। श्री पवैया ने कहा कि नैतिक शिक्षा को पाठ्यक्रम में जोड़ा जायेगा। उन्होंने शिक्षा और विद्या में फर्क बताया। उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि बगैर आत्म-विश्वास के आगे नहीं बढ़ सकते। विद्यार्थी सामाजिक सरोकारों से भी जुड़े। उन्होंने बताया कि सांसद के रूप में चिली में मैंने हिन्दी में भाषण दिया था।
विश्वविद्यालय के कुलपति श्री मोहनलाल छीपा ने बताया कि चिकित्सा शिक्षा को छोड़कर सभी पाठ्यक्रम हिन्दी में पढ़ाये जा रहे हैं। पाठ्यक्रम स्व-रोजगार आधारित हैं। उन्होंने विद्यार्थियों को दीक्षा दिलायी।
स्वामी गोविन्द देव गिरि ‍ने कहा कि विश्व को ज्ञान का प्रकाश भारत ने दिया है। उन्होंने कहा कि देश को राजनैतिक स्वतंत्रता तो मिली लेकिन दिमागी स्वतंत्रता नहीं मिली। श्री गिरि ने कहा कि इस क्षेत्र में पहला प्रयास मध्यप्रदेश में किया गया है। इस दौरान शिक्षाविद्, शिक्षक, अभिभावक एवं विद्यार्थी उपस्थित थे।


मुख्यमंत्री श्री चौहान से मिले वी.आई.टी. यूनिवर्सिटी के वाईस चांसलर श्री विश्वनाथन
18 April 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से आज यहाँ मंत्रालय में वी.आई.टी. विश्वविद्यालय के ट्रस्टी एवं वाईस चांसलर श्री जी.एस.विश्वनाथन ने मुलाकात की।
बताया गया कि वीआईटी यूनिवर्सिटी मध्यप्रदेश में विश्वविद्यालय स्थापित कर रही है, जिसका शैक्षणिक सत्र इसी वर्ष से शुरू हो जाएगा।
इस अवसर पर प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरूण पाण्डे और मुख्यमंत्री के सचिव श्री विवेक अग्रवाल भी उपस्थित थे।


सेवा यात्रा के दूरगामी परिणाम प्राप्त होंगे
Our Correspondent :17 April 2017
'नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा एक विशाल जन-आंदोलन बन गया है। इसमें राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय-स्तर के बौद्धिक और विभिन्न क्षेत्रों के मर्मज्ञ भी हिस्सा ले रहे हैं। सेवा यात्रा के दूरगामी परिणाम प्राप्त होंगे। स्वास्थ्य मंत्री श्री रुस्तम सिंह ने रविवार को जबलपुर में सेवा यात्रा के जन-संवाद में उक्त विचार व्यक्त किये।
मंत्री श्री सिंह ने कहा कि सेवा यात्रा विश्व की अनूठी ऐसी यात्रा है, जिसके दूरगामी परिणाम प्राप्त होंगे। नर्मदा से खेतों को बिजली, पानी और बड़ी आबादी को पीने के लिये पानी मिल रहा है। उन्होंने कहा कि हमारा यह दायित्व है कि हम ऐसे काम करें, जिन्हें अगली पीढ़ियाँ याद कर सकें।
गौ-संवर्धन बोर्ड के अध्यक्ष महामण्डलेश्वर स्वामी अखिलेश्वरानंद ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा प्रचण्ड जन-आंदोलन बनकर प्रदेश की सीमाओं के बाहर के क्षेत्र को भी प्रभावित कर रही है। कृष्णानंद महाराज ने कहा कि नदियाँ हमारी माता की तरह हैं। उन्होंने नदियों के किनारे वृक्षारोपण करने पर जोर दिया। स्वामी राघवाचार्य ने कहा कि भारत को जगत गुरु बनाने के लिये नदियों का शुद्ध और पवित्र होना जरूरी है। विधायक श्री अशोक रोहाणी ने स्वागत उदबोधन में उपस्थित संतों, महात्माओं और सेवा-यात्रियों का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर नर्मदा सेवा यात्रा के प्रदेश संयोजक डॉ. जितेन्द्र जामदार और जन-अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डे मौजूद थे। स्वामी कृष्णानंद महाराज ने सदगुरु टाइम्स के नर्मदा विशेषांक की 50 हजार प्रति जनता में नि:शुल्क वितरित करवाने के लिये प्रकाशित किये जाने की जानकारी दी। मंत्री श्री रुस्तम सिंह और अन्य अतिथियों ने नर्मदा आरती की।




नर्मदा सेवा यात्रा का जबलपुर में मुस्लिम बंधुओं द्वारा भव्य स्वागत
Our Correspondent :17 April 2017
नर्मदा सेवा यात्रा आज 119 वें दिन जबलपुर नगर के जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय से प्रारंभ होकर बिरसामुण्डा चौक, रद्दी चौक, घमापुर, बेलवास, ओमती, घण्टाघर होते हुए सिंधी धर्मशाला पहुँची। रास्ते में आस्था ब्राह्मण महासभा, माँ नर्मदा रामायण मण्डल के अलावा शहीद अब्दुल हमीद मण्डल के मुस्लिम बंधुओं ने यात्रा का स्वागत किया।
ध्वज एवं कलश पर पुष्प वर्षा की गयी। ध्वज लेकर एवं सिर पर कलश रखकर मुस्लिम भाइयों ने यात्रा को आगे बढ़ाया। सेवा यात्रियों के लिए मुस्लिम बंधुओं द्वारा जलपान की व्यवस्था भी की गयी। मोहम्मद सईद, रशीद, नसीम, मकबूल, शरीफ, करीमुल्ला अंसारी फूल वाले आदि मुस्लिम बंधुओं ने माँ नर्मदा के किनारे वृक्षारोपण, स्वच्छता बनाये रखने में पूरा सहयोग करने का आव्हान किया।


प्लांट के विकासकों के साथ आज निष्पादित होंगे अनुबंध
17 April 2017
रीवा जिले की गुढ़ तहसील में स्थापित होने वाले 750 मेगावॉट रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर पॉवर प्लांट के लिये निविदा में प्राप्त न्यूनतम दरों पर परियोजना की स्थापना के लिये तीन विकासक (डेवपलर्स) से 17 अप्रैल को हॉटल मेरियट कोर्टयार्ड (डी.बी. मॉल) में प्रात: 11 बजे अनुबंध निष्पादित किये जायेंगे। आयोजन में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान केन्द्रीय शहरी विकास, आवासीय एवं शहरी गरीबी उन्मूलन और सूचना-प्रसारण मंत्री श्री एम. वैंकेय्या नायडू एवं केन्द्रीय नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा, ऊर्जा, खान और कोयला राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री पीयूष गोयल, प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्री पारसचन्द्र जैन एवं म.प्र. ऊर्जा विकास निगम के अध्यक्ष श्री विजेन्द्र सिंह सिसोदिया उपस्थित रहेंगे। कार्यक्रम में भारत सरकार के नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्रालय, विश्व बैंक एवं अंतर्राष्ट्रीय वित्त निगम, आदि के अधिकारी भी मौजूद रहेंगे।
कार्यक्रम में रीवा परियोजना के लिये आमंत्रित निविदा में न्यूनतम दर प्रस्तुत करने वाली तीन विकासक इकाइयों के साथ प्रमुख रूप से पॉवर क्रय अनुबंध (पीपीए) मध्यप्रदेश पॉवर मैनेजमेंट कम्पनी लिमिटेड तथा दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन द्वारा निष्पादित किये जायेंगे। साथ ही योजना के क्रियान्वयन में सहयोग एवं समन्वय के लिये और पॉवर प्लांट हेतु आवश्यक जमीन के उपयोग की अनुमति के लिये भी विकासकों के साथ अनुबंध निष्पादित होंगे।
रीवा परियोजना में कम दर प्राप्त होने के कारण मध्यप्रदेश की विद्युत वितरण कम्पनियों/म.प्र. पॉवर मैनेजमेंट कम्पनी को परियोजना अवधि में रुपये 4700 करोड़ की बचत होगी (पिछली सौर निविदा की दरों के आधार पर)। परियोजना की स्थापना से मध्यप्रदेश में लगभग रुपये 4000 करोड़ का निजी निवेश होगा। इस होने वाले निवेश में अंतर्राष्ट्रीय वित्त निगम ने सलाहकार के रूप में अहम भूमिका अदा की है।
परियोजना से उत्पादित विद्युत की 24 प्रतिशत बिजली दिल्ली मेट्रो को दी जायेगी। रीवा परियोजना देश की पहली परियोजना है, जिसमें राज्य के बाहर किसी ओपन एक्सेस उपभोक्ता को बिजली दी जा रही है। दिल्ली मेट्रो को दी जाने वाली बिजली वर्तमान बिजली की दर की आधी है और इससे उन्हें रुपये 100 करोड़ प्रतिवर्ष एवं लगभग रुपये 3600 करोड़ की बचत होगी।
रीवा परियोजना की निविदा में 6 अंतर्राष्ट्रीय व 14 राष्ट्रीय कम्पनियों ने भागीदारी की। कुल क्षमता 750 मेगावॉट के 10 गुना क्षमता की बिड प्राप्त हुई। इसमें मुख्य अंतर्राष्ट्रीय कम्पनियाँ थी, Soft Bank (Japan), Engie (France), Enel (Italy) आदि। परियोजना के लिये रुपये 2.97 की दर प्राप्त हुई है, जो अभी तक देश की न्यूनतम दर (रुपये 4.34) से 34 प्रतिशत कम है।
रीवा सौर परियोजना देश की पहली परियोजना है, जिसमें विश्व बैंक से ऋण लिया गया। यह पहली परियोजना है, जिसमें Clean Technology Fund (CTF) का 0.25 प्रतिशत ब्याज दर परअति-रियायती ऋण लिया गया।
भारत शासन के पीजीसीआईएल द्वारा परियोजना क्षेत्र में 220/440 के.व्ही. सब-स्टेशन नि:शुल्क बनाया जा रहा है। भारत शासन ने नवकरणीय ऊर्जा के लिये अंतर्राज्यीय विद्युत पारेषण को नि:शुल्क किया है। रीवा सोलर पार्क विकास के लिये भारत शासन द्वारा रुपये 12 लाख/मेगावाट का अनुदान भी दिया जा रहा है।
750 मेगावाट की यह परियोजना 250 मेगावाट की तीन इकाइयों के रूप में विकसित की जा रही है। दो इकाइयों द्वारा प्रथम वर्ष के लिये दिये गये प्रति यूनिट टेरिफ के अंतर्गत इकाइयों में महिन्द्रा रिन्यूएवल्स प्रायवेट लिमिटेड, मुम्बई, जिसके द्वारा रुपये 2.979 प्रति यूनिट, दूसरी इकाई एक्मे सोलर होल्डिंग्स प्रायवेट लिमिटेड गुड़गांव रुपये 2.97 प्रति यूनिट तथा सोलेनर्जी पॉवर प्रायवेट लिमिटेड, पोर्ट लुईस, मोरिशस द्वारा रुपये 2.974 प्रति यूनिट की दरें दी गयी हैं।


मुख्यमंत्री का संकल्प जन-जन का संकल्प बना
Our Correspondent :12 April 2017
“नमामि देवि नर्मदे” - सेवा यात्रा आज जबलपुर के शहपुरा विकास खंड के बिलपठार ग्राम में पहुँची। यहाँ यात्रा का जन-जन ने स्वागत किया। इसके बाद विधायक श्रीमती प्रतिभा सिंह ने नर्मदा सेवा यात्रा समिति बिलपठार, रमखिरिया के सदस्यों की घोषणा की। उन्होंने जन-समुदाय को नर्मदा रक्षा का संकल्प भी दिलवाया।
कमलगिरि बने तिलक बाबा
श्री कमलगिरि अब तिलक बाबा के नाम से जाने जाते हैं। वे महेश्वर जिला खरगोन से नर्मदा यात्रा में 4 मार्च को शामिल हुए और यात्रा के अगले पड़ाव पहुँचने के पहले पहुँच कर लोगों को तिलक लगा रहे हैं। उन्होंने स्वयं की गाड़ी से लगभग एक हजार किलोमीटर और लगभग ड़ेढ लाख लोगों को तिलक लगाया है। वह यात्रा मार्ग में काँटें आदि की साफ-सफाई भी स्वेच्छा से कर रहे हैं। श्री विनय सिंह ने बताया कि उनके चंदन के तिलक से ठंडक प्राप्त होती है। लोग उनसे खुशी-खुशी तिलक लगवा रहे हैं।
संत अखिलेश्वरानंद जी महाराज ने जन-संवाद में यात्रा का अध्यात्मिक और वैज्ञानिक महत्व समझाया। उन्होंने कहा कि पर्यावरणविद पर्यावरण की रक्षा करने को कहते हैं, यह कार्य प्रकृति के साथ छेड़-छाड़ नहीं करने से ही हो सकता है। इसके लिए पॉलीथिन का उपयोग करना मानव को बंद करना होगा। महाराज ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने नर्मदा यात्रा के उद्देश्य में स्वच्छता, पौध-रोपण, नशामुक्ति का संकल्प आदि का समावेश कर यात्रा को अभियान का रूप दिया है। उनके संकल्प के साथ उनकी पत्नि श्रीमती साधना सिंह यात्रा में शामिल रहती हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री और उनकी पत्नि द्वारा गोमती नदी के संरक्षण के लिए जिस प्रकार सत्-युग में मनु-सतरूपा ने काम किया था, उस प्रकार नर्मदा की रक्षा के लिए काम कर रहे हैं। उनके साथ ऋषि-मुनि भी इस अभियान में जुड़ रहे हैं। मुख्यमंत्री का संकल्प आज जन-जन का संकल्प बन गया है। उन्होंने नशामुक्ति के लिए शराबबंदी कर मुख्यमंत्री राजस्व संग्रहण का जल्द ही दूसरा विकल्प भी ढूंढेंगे। नर्मदा की निर्मल अविरल धारा के लिए यह अभियान अनुष्ठान बन गया है और अनुष्ठान से शक्ति प्राप्त होती है। महाराज ने कहा कि 2 जुलाई को एक करोड़ पौध-रोपण का काम किया जाएगा, जो 15 करोड़ पौधे लगाकर पूरा होगा। उन्होंने कहा कि जल संरक्षण के लिए मुख्यमंत्री ने जनता, संत-महात्मा और शासन-प्रशासन का त्रिभुज बनाया है। उन्होनें कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को महामंडलेश्वर बोलना चाहिए। उनकी वाणी से धारा-प्रवाह सदवचन निकलते हैं।
यात्रा के प्रदेश संयोजक डॉ जितेन्द्र जामदार ने कहा कि माँ नर्मदा से प्राप्त बिजली से प्रदेश रोशन हो रहा है। नर्मदा-जल से प्रदेश की जल आपूर्ति हो रही है और प्रदेश की 60 प्रतिशत भूमि को सिंचित कर भोजन की व्यवस्था कर रही है। ऐसी बिजली, पानी और भोजन देने वाली नर्मदा की जन-जन को चिंता करनी होगी। वृक्ष नर्मदा के लिए बैंक का काम करते हैं। वृक्षों के जरिए ही नर्मदा को जल प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि किसानों को रसायनिक कृषि छोड़कर जैविक कृषि अपनानी होगी।
संचालन जिला भाजपा (ग्रामीण) अध्यक्ष श्री शिव पटेल ने किया। कार्यक्रम में लोगों के हाथों में स्वच्छता का संदेश दिखा। इस मौके पर मंडी अध्यक्ष श्री नीरज सिंह, सरपंच, जन-प्रतिनिधि सहित जन-समुदाय उपस्थित था।


नर्मदा सेवा के लिये बनेगी कार्य-योजना : मुख्यमंत्री श्री चौहान
Our Correspondent :12 April 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ मंत्रालय में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की नर्मदा सेवा यात्रा के समापन और नर्मदा सेवा शुभारंभ कार्यक्रम में 11 मई को प्रस्तावित अमरकंटक यात्रा की तैयारियों की समीक्षा की।
श्री चौहान ने प्रधानमंत्री के आगमन, प्रस्थान, मंच व्यवस्था, सांस्कृतिक कार्यक्रम, नर्मदा सेवकों की भागीदारी एवं जरूरी तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने जनसंपर्क, लोक निर्माण, नगरीय विकास, जन अभियान परिषद, नर्मदा घाटी विकास आदि विभाग की जिम्मेदारियाँ भी तय की। उन्होंने नर्मदा सेवा शुभारंभ करने के लिये भविष्य की कार्य-योजना बनाने के निर्देश दिये। इसके लिये राष्ट्रीय कार्यशाला आयोजित कर विशेषज्ञों के विचारों को शामिल किया जायेगा।
श्री चौहान ने नर्मदा सेवा शुभारंभ कार्यक्रम में शामिल होने वाले नर्मदा सेवकों, शुभचिंतकों और यात्रियों के लिये पेयजल आदि व्यवस्थाएँ करने के निर्देश दिये। उन्होंने नर्मदा किनारे की ग्राम पंचायतों की भागीदारी, विशिष्ट अतिथियों को निमंत्रण देने, नर्मदा सेवा यात्रा में साथ चल रहे यात्रियों का सम्मान करने से संबंधित विषयों पर भी चर्चा की और आवश्यक निर्देश दिये।
बैठक में मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, अपर मुख्य सचिव गृह श्री के.के. सिंह, अपर मुख्य सचिव ग्रामीण विकास श्री राधेश्याम जुलानिया, अपर मुख्य सचिव वन श्री दीपक खांडेकर, प्रमुख सचिव संस्कृति श्री मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव नगरीय विकास श्री मलय श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव सामान्य प्रशासन और श्रीमती सीमा शर्मा, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री अशोक वर्णवाल, जनसंपर्क आयुक्त श्री अनुपम राजन और सचिव श्री विवेक अग्रवाल उपस्थित थे।


मुकुन्दपुर व्हाइट टाइगर सफारी को बनायेंगे विश्व की श्रेष्ठ सफारी में से एक
Our Correspondent :12 April 2017
सफेद शेर विन्ध्य की शान है। मुकुन्दपुर व्हाइट टाइगर सफारी बनने से विन्ध्य का गौरव वापस आया है। इस सफारी को विश्व की सर्वश्रेष्ठ टाइगर सफारी में से एक बनाया जाएगा। रीवा के निकट सतना जिले में स्थित महाराजा मार्तण्ड सिंह जू देव व्हाइट टाइगर सफारी मुकुन्दपुर में भ्रमण के समय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यह बात कही। इस दौरान मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी साधना सिंह, उद्योग-वाणिज्य और खनिज साधन मंत्री राजेन्द्र शुक्ल और उनकी धर्मपत्नी श्रीमती सुनीता शुक्ल मौजूद थी।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि निश्चित ही मध्यप्रदेश सरकार मुकुन्दपुर स्थित व्हाइट टाइगर सफारी को दुनिया की श्रेष्ठ सफारी में से एक बनायेगी। इसके लिये अगले सप्ताह भोपाल में उच्च-स्तरीय बैठक बुलायी जावेगी। इस सफारी को श्रेष्ठतम बनाने संबंधी निर्णय लिये जायेंगे। सफारी एवं जू के लिये किसी भी स्तर पर धन की कमी नहीं होने दी जायेगी। उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने इस व्हाइट टाइगर सफारी के लिये जैसी कार्य-योजना बनायी है और जैसी उनकी कल्पना है उसी अनुरूप इस सफारी को स्वरूप प्रदान किया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने परिवार से साथ मुकुन्दपुर व्हाइट टाइगर सफारी एवं जू-रेस्क्यू सेन्टर का आनन्द उठाया। मुख्यमंत्री ने इस दौरान रीवा में सफेद शेर के इतिहास के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि विभिन्न स्थान पर जो भी सफेद शेर हैं, वे सभी विन्ध्य अंचल में जन्में सफेद शेर मोहन के वंशज हैं। मोहन को महाराजा मार्तण्ड सिंह जू देव ने विन्ध्य के जंगल से पकड़ा था। उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने लम्बे समय के अन्तराल के बाद सफेद शेर को विन्ध्य की धरती पर वापस लाकर सराहनीय काम किया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि यह जानकर प्रसन्नता हुई कि इस सफारी में विदेशी पर्यटकों की रूचि बढ़ी है और उन्होंने यहाँ आकर सफेद शेर देखा है। उन्होंने निर्देश दिये कि सफेद शेर, बंगाल टाइगर और अन्य वन्य-प्राणियों की समुचित देखभाल होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि विशेषज्ञों की निगरानी में ऐसे प्रयास हों कि सफेद शेर का कुनबा बढ़े। मुकुन्दपुर का क्षेत्र सफेद शेरों का प्राकृतिक रहवास है। जलवायु उनके अनुकूल है। मुख्यमंत्री ने सफेद शेरनी विन्ध्या और बंगाल टाइगर और अन्य वन्य-प्राणियों को देखकर खुशी जाहिर की।
मुख्यमंत्री ने भ्रमण के दौरान ही रीवा में गत वर्षा ऋतु के समय आयी भीषण बाढ़ को रोकने के उपायों के क्रियान्वयन की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि रीवावासियों को बाढ़ की भीषण आपदा से बचाने के लिये हर सम्भव उपाय करने में शीघ्रता लायी जानी चाहिये। उद्योग मंत्री श्री शुक्ल, सम्भागायुक्त श्री एस.के. पॉल और कलेक्टर श्री राहुल जैन ने बाढ़ की विभीषिका को रोकने के लिये अब तक किये गये प्रयास और कार्यों से मुख्यमंत्री को अवगत कराया।



मुख्यमंत्री श्री चौहान ग्राम अमोदा में नर्मदा की महाआरती में हुए शामिल
Our Correspondent :11 April 2017
नमामि देवि नर्मदे- नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान नरसिंहपुर जिले के नीमखेड़ा- हीरापुर के नजदीक अमोदा में नर्मदा तट पर जगतगुरू शंकराचार्य श्री स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज के साथ मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार की देर रात माँ नर्मदा की पूजा- अर्चना की और महाआरती में शामिल हुए। मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह भी उनके साथ थी। इस अवसर पर नर्मदाष्टक का सस्वर पाठ किया गया।
महाआरती में केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते, प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह, सांसद श्री राव उदय प्रताप सिंह, सतना के सांसद श्री गणेश सिंह, अध्यक्ष राज्य महिला आयोग श्रीमती लता वानखेड़े, श्री अखिलेश्वरानंद, साध्वी प्रज्ञा भारती, मध्यप्रदेश खनिज निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे, नरसिंहपुर जिले के विधायक श्री जालम सिंह पटैल, श्री गोविंद सिंह पटैल, श्री संजय शर्मा, डॉ. कैलाश जाटव, अपैक्स बैंक के पूर्व उपाध्यक्ष श्री कैलाश सोनी, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री संदीप पटेल एवं उपाध्यक्ष श्रीमती शीलादेवी ठाकुर, सहकारी बैंक के अध्यक्ष वीरेन्द्र फौजदार, डॉ. जितेन्द्र जामदार, जनअभियान परिषद के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पांडे, पूर्व विधायक श्री शेखर चौधरी, श्री भैयाराम पटैल व श्री हाकम सिंह चढ़ार, श्री राजा कौशलेन्द्र सिंह जूदेव, स्वामी ऐश्वर्यानंद सरस्वती जी भुवनेश्वर, स्वामी बालक दास जी महाराज, साधु- संत और बड़ी संख्या में श्रद्धालुजन मौजूद थे।


बाबा साहेब अम्बेडकर की 126वीं जयंती पर महू में भव्य कार्यक्रम होगा
Our Correspondent :11 April 2017
संविधान निर्माता बाबा साहेब अम्बेडकर की 126वीं जयंती पर आगामी 14 अप्रैल को अम्बेडकर नगर महू में भव्य कार्यक्रम होगा। बाबा साहब अम्बेडकर की जन्म-स्थली महू में हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी राज्य शासन द्वारा अम्बेडकर महाकुंभ आयोजित किया जायेगा। इसी कार्यक्रम में 'ग्रामोदय से भारत उदय'' अभियान का शुभारंभ किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा की। बैठक में मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह भी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आयोजन की सभी तैयारियाँ समय से पूरी की जाये। बाबा साहेब अम्बेडकर के जन्म-दिवस पर महू आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधाओं का ध्यान रखा जाये। श्रद्धालुओं के भोजन तथा आवास की व्यवस्था की जाये। श्रद्धालुओं के लिये खण्डवा से महू तक आने के लिये अतिरिक्त बसों की व्यवस्था की जाये। खण्डवा रेलवे स्टेशन पर श्रद्धालुओं की मदद के लिये स्वागत केन्द्र बनाया जाये। अम्बेडकर स्मारक पर सभी आवश्यक व्यवस्थाएँ की जाये। आयोजन के दौरान सुरक्षा तथा अन्य व्यवस्थाएँ चाक-चौबन्द रहे। व्यवस्थाओं में अशासकीय संगठनों और नागरिकों का सहयोग लिया जाये।
मुख्य कार्यक्रम के बाद समरसता भोज का आयोजन किया जायेगा। इस भव्य समारोह में अन्य स्थानों के अलावा बड़ी संख्या में प्रदेश भर के श्रद्धालु शामिल होंगे।
बैठक में अपर मुख्य सचिव श्री प्रभांशु कमल, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल, प्रमुख सचिव अनुसूचित जाति विकास श्रीमती दीपाली रस्तोगी, डॉ. अम्बेडकर मेमोरियल सोसायटी के अध्यक्ष श्री भंते संघशील, संभागायुक्त इंदौर श्री संजय दुबे, मुख्यमंत्री के सचिव श्री विवेक अग्रवाल, कलेक्टर इंदौर श्री पी. नरहरि और स्थानीय समिति के पदाधिकारी उपस्थित थे।


900 करोड़ लागत के मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम को मंजूरी
Our Correspondent :11 April 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की अध्यक्षता में आज संपन्न मंत्रि-परिषद की बैठक में प्रदेश में प्लास्टिक कैरी बैग पर 1 मई से प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया गया। मंत्रि-परिषद ने माननीय राष्ट्रीय हरित अधिकरण के आदेश के पालन में पूरे प्रदेश में प्लास्टिक कैरी बैग के उपयोग पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने के लिए मध्यप्रदेश जैव अनाश्य अपषिष्ट (नियंत्रण) संशोधन अध्यादेश 2017 को अनुमोदन प्रदान किया। मुख्यमंत्री यंग प्रोफेशनल फॉर डेव्लपमेंट कार्यक्रम को भी अनुमोदन प्रदान किया गया। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य राज्य के विकास में युवाओं की ऊर्जा, क्षमता और विजन का उपयोग करना तथा युवाओं को सरकारी कामकाज की करीबी समझ विकसित करने के लिए अवसर प्रदान करना है। कार्यक्रम अंतर्गत 51 मुख्यमंत्री रिसर्च एसोसियेट एवं 6 कार्यक्रम समन्वयक चयनित किये जायेंगे।
मंत्रि-परिषद ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अंतर्गत मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम के नाम से एक नई योजना प्रारंभ करने की स्वीकृति दी। योजना की लागत 900 करोड़ रुपए है। इसके अंतर्गत वर्ष 2017-18 में प्रदेश की 10 हजार ग्रामीण बसाहटों में हैंड पंप से पेयजल उपलब्ध कराये जाने तथा 5000 ग्रामीण बसाहटों में नल-जल योजनाओं के कार्य किये जायेंगे। ग्रामीण नल-जल योजनाओं का स्त्रोत संरक्षण, ग्रामीण क्षेत्रों में स्थापित हैंडपंपों तथा समूह पेयजल योजनाओं का संधारण भी इस योजना में किया जायेगा।
मंत्रि-परिषद ने प्रदेश के 49 जिला मुख्यालयों के नगरीय क्षेत्रों में दीनदयाल अंत्योदय रसोई योजना का प्रथम चरण आरंभ करने का निर्णय लिया।
मंत्रि-परिषद ने प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं के दृष्टिगत गांधी चिकित्सा महाविद्यालय भोपाल में एमबीबीएस सीट्स को 150 से बढ़ाकर 250 करने तथा निर्माण, उपकरण, फर्नीचर एवं वाहन के लिए 119.68 करोड़ रुपये तथा कुल 555 पदों के सृजन और पूर्ति की स्वीकृति प्रदान की।
मंत्रि-परिषद ने प्रदेश में विदिशा, शहडोल, रतलाम, खंडवा, छिंदवाड़ा और शिवपुरी में नवीन चिकित्सा महाविद्यालयों की स्थापना के लिए उपकरण, फर्नीचर, वाहन और पुस्तक क्रय के लिए क्रमश: 70.98 करोड़, 69 करोड़, 70.98, 69 करोड़, 68.99 करोड़ तथा 69.01 करोड़ की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की। मंत्रि-परिषद ने इन महाविद्यालयों के लिए पदों के निर्माण और आउट सोर्सिंग से सेवाएँ लेने की भी प्रशासकीय स्वीकृति दी।
मंत्रि-परिषद की बैठक में एम वाय अस्पताल इंदौर में बोन मेरो ट्रांसप्लांट सेंटर स्थापित करने का निर्णय लिया गया।
मंत्रि-परिषद ने शासकीय अधिकारी-कर्मचारियों के विरुद्ध अभियोजन स्वीकृति जारी करने की प्रक्रिया में संशोधनों को अनुमोदन प्रदान किया। अन्वेषण अभिकरण/व्यक्तिगत परिवादी द्वारा अभियोजन स्वीकृति के प्रकरण /आवेदन अभिलेख सहित सीधे प्रशासकीय विभाग को भेजते हुए उसकी एक प्रति विधि एवं विधायी कार्य विभाग एवं सामान्य प्रशासन विभाग को पृष्ठांकित करेगा। प्रशासकीय विभाग प्रकरण का परीक्षण कर यदि यह पाता है कि प्रकरण अभियोजन की स्वीकृति के योग्य है, तो वह प्रकरण की प्राप्ति से 45 दिन की अवधि के भीतर अभियोजन की स्वीकृति जारी कर, उसे अन्वेषण अभिकरण/व्यक्तिगत परिवादी को प्रेषित करेगा तथा स्वीकृति आदेश की एक प्रति विधि और विधायी कार्य विभाग एवं सामान्य प्रशासन विभाग को भी अग्रेषित करेगा।
मंत्रि-परिषद ने भोपाल नगर निगम में स्मार्ट सिटी मिशन अंतर्गत चयनित क्षेत्र आधारित विकास घटक के लिए नार्थ तथा साउथ टीटी नगर स्थित 342 एकड़ भूमि को नगरीय विकास एवं आवास विभाग एवं तदुपरांत भोपाल स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कार्पोरेशन लिमिटेड को स्थानांतरित किये जाने की स्वीकृति दी।
मंत्रि-परिषद ने एमपी मेजर डिस्ट्रिक्ट रोड अपग्रेडेशन प्रोजेक्ट के अंतर्गत दमोह जिले के अभाना-तेंदूखेड़ा मार्ग, श्योपुर के गांधी तिराहा -इकलोड जंक्शन मार्ग, अशोक नगर जिले के हापाखेड़ी पनवाड़ीघाट मार्ग , सीहोर जिले के अहमदपुर- भोजपुर मार्ग तथा इटारसी छीपानेर मार्ग, रायसेन जिले के भोपाल सागर से देपालपुर सुनहरा पीतमपुर, बड़गांव मरखेड़ी उइका मरखेड़ा गुलाब-सुलतानगंज सागर मार्ग तथा एसएच -15 के गुढरई खमरिया-बरेली पड़रियाखुरे-मौसपिपलिया- हमीरपुर से एस 44 तक और ग्‍वालियर के जैनोर-करारिया-भितरवार (सभी मार्ग की कुल लंबाई 161.36 किलोमीटर) के उन्नयन की स्वीकृति प्रदान की। सड़कों का उन्नयन न्यू डेवलपमेंट बैंक की सहायता से किया जायेगा।
मंत्रि-परिषद ने आज तीन जिलों की सिंचाई परियोजनाओं की भी प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की। इनमें सागर जिले में कडान मध्यम सिंचाई परियोजना की 9 हजार 990 हेक्टर सिंचाई क्षमता के लिए 385.79 करोड़ रुपये की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई। इस परियोजना से सागर जिले के राहतगढ़ और बंडा विकासखंड के 53 गाँव लाभान्वित होंगे। परियोजना से सागर जिले के राहतगढ़ विकासखंड के 107 गाँवों को पेयजल प्रदान किया जायेगा। इसी प्रकार बिलगाँव मध्यम सिंचाई परियोजना के कुल सैंच्य क्षेत्र 9 हजार 980 हेक्टयर रबी सिंचाई के लिए 269.90 करोड़ की पुनरीक्षित प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई। इस परियोजना से डिंडौरी जिले की शहपुरा तहसील के 46 गाँव लाभान्वित होंगे।
मंत्रि-परिषद ने लोअर और वृहद सिंचाई परियोजना की 90 हजार हेक्टेयर सिंचाई क्षमता के लिए 2208.03 करोड़ रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की। इस परियोजना से शिवपुरी जिले के विकासखंड खनियाधाना, पिछौर, करेरा के 222 ग्राम तथा दतिया जिले के दतिया विकासखंड के 36 गाँव लाभान्वित होंगे।


सूक्ष्म, लघु, मध्यम उद्योग विभाग हर दो वर्ष में करेगा इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव
Our Correspondent :10 April 2017
भोपाल एवं इंदौर जैसे शहरों में होने वाले समिट को कटनी में करने से महाकौशल क्षेत्र में औद्योगिक क्रांति आयेगी। उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने यह बात आज सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (एमएसएमई) विभाग द्वारा कटनी में पहली बार आयोजित इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव का शुभारंभ करते हुए कही। श्री शुक्ल ने कहा कि प्रदेश में उद्योगों के विस्तार के लिये सभी संभागीय मुख्यालय को फोर-लेन सड़क से जोड़ा जा रहा है।
महाकौशल को इंडस्ट्रियल कॉरीडोर बनाने केन्द्र शासन को भेजा प्रस्ताव श्री शुक्ल ने बताया कि महाकौशल में बिजली, पानी एवं खनिज के भण्डार और इन पर आधारित उद्योग लगाने की अपार संभावनाएँ हैं। इसके मद्देनजर राज्य शासन ने जबलपुर, कटनी, सतना, रीवा,बनारस और सोनभद्र तक इंडस्ट्रियल कॉरीडोर बनाने का प्रस्ताव भारत सरकार को भेजा है, जिसके जल्द ही मंजूर होने की संभावना है। श्री शुक्ल ने कहा कि रीवा के गुढ़ में विश्व का सबसे बड़ा 750 मेगावॉट क्षमता का सोलर पॉवर प्लांट तैयार होने जा रहा है। उद्योगों के लिये 24 घंटे बिजली की सुनिश्चितता के साथ पानी की उपलब्धता के लिये नर्मदा बेसिन का पानी गंगा बेसिन में पहुँचाने का काम किया जा रहा है।
हर दो वर्ष में होगा एम.एस.एम.ई. कॉन्क्लेव
सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री संजय पाठक ने उद्योगपतियों का स्वागत करते हुए कटनी के औद्योगिक महत्व पर प्रकाश डाला। श्री पाठक ने कहा कि कटनी में इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव विभाग का पहला प्रयास है, जिसे अगले वर्ष वृहद-स्तर पर किया जायेगा। इसके बाद प्रत्येक दो वर्ष में विभाग इंडस्ट्रियल कॉन्क्लेव करेगा। श्री पाठक ने कहा कि कटनी संसाधन सम्पन्न जिला होने से बेस्ट लॉजिस्टिक हब है। रोड, रेलवे और एयर कनेक्टिविटी यहाँ सुलभ है। कुशल श्रमिक, खनिज, बिजली,पानी की उपलब्धता के साथ यहाँ कोई राजनैतिक हस्तक्षेप नहीं है। दाल मिल क्षेत्र में कटनी देश में अग्रणी है। उद्योगों के लिये कटनी में 3000 एकड़ का लेंड बैंक है।
प्रदेश में 87 हजार सूक्ष्म उद्योग पंजीकृत
प्रमुख सचिव श्री व्ही.एल. कांताराव ने बताया कि प्रदेश में सूक्ष्म उद्योगों का ऑनलाइन पंजीयन होने से 87 हजार सूक्ष्म उद्योग पंजीकृत हो चुके हैं। विजन-2018 के तहत मध्यप्रदेश को मेक इन इण्डिया का हब बनाने का प्रयास किया जा रहा है। प्रदेश में हर साल 15 लाख युवा का कौशल उन्नयन करने का लक्ष्य रखा गया है। रक्षा क्षेत्र में यूनिट लगाने पर अन्य यूनिट की तुलना में दोगुना प्रोत्साहन दिया जायेगा।
हर जिले में होगी एक कंसल्टेंट की नियुक्ति
लघु और बड़े उद्योगों के बीच समन्वय स्थापित करने के लिये हर जिले में एक कंसल्टेंट की नियुक्ति की जा रही है। कंसल्टेंट लघु उद्योगों द्वारा तैयार सामग्री बड़े उद्योगों को उपलब्ध करवायेगा। देश का 40 प्रतिशत निर्यात लघु एवं कुटीर उद्योगों से हो रहा है। कॉन्क्लेव में 40 उद्योग ने प्रदर्शनी भी लगायी।


रिहायशी इलाकों और शिक्षण संस्थाओं के पास नहीं खुलेंगी शराब की दुकानें
Our Correspondent :10 April 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में नशामुक्ति का आंदोलन चलेगा। प्रथम चरण में नर्मदा नदी के दोनों तट पर पाँच-पाँच किलोमीटर तक शराब की दुकानें एक अप्रैल से बंद कर दी गयी हैं। उन्होंने कहा कि अब रिहायशी इलाकों, शिक्षण संस्थाओं और धार्मिक स्थलों के पास शराब की दुकानें नहीं खुलेंगी । मुख्यमंत्री ने कहा कि चरणबद्ध तरीके से शराब की सभी दुकानें बंद कर प्रदेश में शराब-बंदी लागू की जाएगी । उन्होंने कहा कि नदियाँ बचेंगी, तो मानव-सभ्यता और संस्कृति बचेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान नर्मदा सेवा यात्रा के 113 वें दिन नरसिंहपुर जिले के ग्राम नीमखेड़ा (हीरापुर) में जन-संवाद को संबोधित कर रहे थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने माँ ताप्ती, बेतवा और क्षिप्रा की धार को टूटते हुए देखा है । अगर माँ नर्मदा की धार टूटी तो जीवन नहीं बचेगा । उन्होंने बताया कि एशिया की सर्वश्रेष्ठ खेती नरसिंहपुर जिले में माँ नर्मदा के कारण ही होती है। मुख्यमंत्री ने बताया कि अगामी मानसून सत्र में मासूमों के साथ दुराचार करने वालों को फाँसी की सज़ा देने संबंधी विधेयक लाया जायेगा । उन्होंने कहा कि नरसिंपुर में गौ-वंश वन्य विहार की स्थापना की जायेगी ।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आगामी दो जुलाई को अमरकंटक से बड़वानी तक नर्मदा के तट पर लाखों लोग करोड़ों पेड़ लगायेंगे। माँ नर्मदा मध्यप्रदेश की समृद्धि का आधार है, जो दर्जनों शहर को पेयजल उपलब्ध करवाती है। इसकी कृपा से मध्यप्रदेश को चार बार कृषि कर्मण अवार्ड मिला है। प्रदेश को सिंचाई के लिए जल और बिजली उपलब्ध करवाती है। यात्रा नर्मदा को बचाने और उसका कर्ज उतारने की यात्रा है। नर्मदा के दोनों तटों के शहरों में ट्रीटमेंट प्लांट बनाये जाएंगे तथा साफ पानी को खेतों में ले जाया जायेगा । उन्होंने संकल्प दिलवाया कि नर्मदा के तटों पर पेड़ लगायें, इसके किनारे के गाँवों में हर घर में शौचालय बनायें, पूजन-सामग्री पूजन कुण्ड में डालें। नर्मदा के किनारे चेंजिंग रूम और मुक्तिधाम बनाये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि बेटियों को बचायें और हर बच्चे को स्कूल भेंजे।
परिक्रमा सिर्फ माँ नर्मदा की : जगदगुरू शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती
जन-संवाद में जगतगुरू शंकराचार्य श्री स्वरूपानंद महाराज ने कहा कि देश-दुनिया में अनेक नदियाँ हैं लेकिन परिक्रमा सिर्फ माँ नर्मदा की की जाती है । उन्होंने कहा कि आदि शंकराचार्य ने अद्वैतवाद के सिद्धांत में बताया है कि शरीर भिन्न हैं लेकिन आत्मा एक है। शंकराचार्य जी ने कहा कि बच्चों को गीता और रामायण की भी शिक्षा दी जाये ।
अमजद अली खान ने की यात्रा की सराहना
विश्व विख्यात सरोद वादक श्री अमजद अली खान ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा शुरू की गई नर्मदा और पर्यावरण संरक्षण की यात्रा सराहनीय एवं अनुकरणीय है । इसका अनुसरण अन्य मुख्यमंत्रियों को भी करना चाहिये । उन्होंने 'भारत है देश प्यारा- भारत है देश न्यारा, इसकी सभ्यता है महान- इसकी संस्कृति है महान'' गीत गाया ।
जन-संवाद को लोक-निर्माण एवं नरसिंहपुर जिला प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह और सांसद श्री राव उदयप्रताप सिंह, अध्यक्ष राज्य महिला आयोग श्रीमती लता वानखेड़े, श्री अखिलेश्वरानंद, दीदी प्रज्ञा भारती सहित अन्य वक्ता ने भी संबोधित किया।
यात्रा के पहुँचने पर ग्रामीणों ने भारी उत्साह-उमंग, आस्था और श्रद्धाभाव के साथ तथा महिलाओं ने सिर पर कलश लेकर यात्रियों का स्वागत किया। यात्रा में बच्चे, बुजुर्ग, महिलाओं सहित हर वर्ग के लोग शामिल हुए। यात्रा में हुए 'हर-हर नर्मदे' के उदघोष से आसमान गूँज उठा। इसके बाद माँ नर्मदा की महाआरती की गई।
जन-संवाद में सांसद श्री गणेश सिंह, जिले के विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, साधु-संत और पर्यावरणविद श्री भारत-भूषण गर्ग, प्रसिद्ध नृत्यांगना श्रीमती शुभालक्ष्मी खान, मो. अकील रज़ा सहित अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे ।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्राचीन गुरू गुफा के दर्शन किये
Our Correspondent :10 April 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने नरसिंहपुर जिले के ग्राम नीमखेड़ा (हीरापुर) में अपनी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह के साथ प्राचीन गुरू गुफा के दर्शन किये। गुफा आदि शंकराचार्य के पूज्य गुरू गोविंद भगवत पादाचार्य जी महाराज की है, जहाँ उन्होंने साधना की थी। गुफा आदि गुरू शंकराचार्य की दीक्षा एवं साधना-स्थली भी है। नमामि देवि नर्मदे- सेवा यात्रा में शामिल होने आये मुख्यमंत्री ने कहा कि यह अदभुत साधना-स्थली है। इस पवित्र स्थान के दर्शन करना मेरा सौभाग्य है।
इस अवसर पर जगदगुरू शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाराज, लोक निर्माण मंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह भी मौजूद थे।
मुख्यमंत्री ने किया पौध-रोपण
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्राम नीमखेड़ा (हीरापुर) में धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह के साथ गुरू गुफा के नजदीक पौध-रोपण किया। उन्होंने त्रिवेणी पीपल, बरगद एवं नीम के पौधे रोपे। इस अवसर पर आम, चीकू, अनार, जामुन सहित 11 फलदार वृक्षों के लिए पौध-रोपण किया गया।


नर्मदा सेवा यात्रा नरसिंहपुर जिले में पहुँची
Our Correspondent :6 April 2017
जीवनदायिनी माँ नर्मदा के संरक्षण एवं संवर्धन और प्रदूषण-मुक्त करने के उद्देश्य से निकाली जा रही नमामि देवि नर्मदे- सेवा यात्रा का आज नरसिंहपुर जिले में चांवरपाठा विकासखंड के ग्राम हीरापुर के समीप सिंदूर नदी के तट पर प्रवेश हुआ। यात्रा की अगवानी विधायक श्री संजय शर्मा ने की। रायसेन जिले की ओर से यात्रा का ध्वज एवं कलश उदयपुरा के जनपद पंचायत के अध्यक्ष श्री वीरेन्द्र सिंह चौहान, नगर पालिका के अध्यक्ष श्री केशव सिंह पटेल और अन्य जन-प्रतिनिधियों ने नरसिंहपुर जिले को सौंपा। नरसिंहपुर जिले के लिए ध्वज श्री संजय शर्मा और अपेक्स बैंक के पूर्व उपाध्यक्ष श्री कैलाश सोनी ने प्राप्त किया। ध्वज और कलश की पूजा- अर्चना कर स्वागत किया गया।
इस अवसर पर राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष एवं नरसिंहपुर जिले में उत्तरी तट नर्मदा सेवा यात्रा की प्रभारी श्रीमती लता वानखेड़े, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष श्री वीरेन्द्र फौजदार, नेहरू युवा केन्द्र के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री विष्णुदत्त शर्मा, रायसेन और नरसिंहपुर के कलेक्टर तथा श्रद्धालु और ग्रामीण मौजूद थे।
जिले में नर्मदा सेवा यात्रा के प्रवेश पर हुआ भव्य स्वागत
यात्रा के प्रवेश पर जगह- जगह फूलों की माला, वंदनवार, केलों के पत्तों और तोरण द्वारों से मार्ग को सजाया गया था। महिलाओं ने कलश लेकर यात्रा की अगवानी की। घरों के सामने एवं रास्ते पर रांगोली सजाकर और पुष्प-वर्षा कर यात्रियों का अभिनंदन किया गया। युवा ध्वज के साथ घोड़े पर सवार होकर यात्रा के आगे- आगे चल रहे थे। स्वस्ति-वाचन, मंत्रोच्चार और शंख-ध्वनि से यात्रा की अगवानी की गई। बैंड बाजे से स्वागत किया गया। सिंदूर नदी के तट से करीब 3 किलोमीटर तक की यात्रा में आसपास के गाँवों के हजारों लोग, महिलाएँ, युवा एवं बुजुर्ग शामिल हुए। यात्रा-पथ नर्मदा संरक्षण के नारों और 'त्वदीय पाद पंकजम्- नमामि देवि नर्मदे' के घोष के साथ गुँजायमान हो रहा था।
सिंदूर नदी के तट पर ध्वज एवं कलश और सेवा यात्रियों पर ड्रोन से पुष्प-वर्षा की गई।


मध्यप्रदेश में खाद्यान्न का रिकार्ड 339.51 लाख मी. टन उत्पादन
Our Correspondent :6 April 2017
मध्यप्रदेश ने खाद्यान्न उत्पादन में अभूतपूर्व वृद्धि दर्ज करते हुए इस साल भी रिकार्ड बनाया है। गेहूँ, चावल, मोटे अनाज, दालों का उत्पादन बढ़ा है।
खाद्यान्न उत्पादन वर्ष 2015-16 में बढ़कर 339 लाख 51 हजार मीट्रिक टन हो गया है। यह वर्ष 2014-15 के मुकाबले 18.35 प्रतिशत तक बढ़ा है। वर्ष 2014-15 में खाद्यान्न उत्पादन 286 लाख 87 हजार मीट्रिक टन था। इसी प्रकार गेहूँ उत्पादन में वर्ष 2014-15 के मुकाबले इस साल 7.64 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है। वर्ष 2014-15 में गेहूँ का उत्पादन 171 लाख 03 हजार मीट्रिक टन था, जो वर्ष 2015-16 में बढ़कर 184 लाख 10 हजार मीट्रिक टन हो गया है। चावल का उत्पादन भी 36 लाख 25 हजार मीट्रिक टन से बढ़कर 53 लाख 20 हजार मीट्रिक टन हो गया है।
किसानों की लगन और कृषि वैज्ञानिकों, विशेषज्ञों और कृषि विभाग के मैदानी अमले के मिले-जुले प्रयास से यह उपलब्धि हासिल हुई है।
दलहन उत्पादन में सर्वोत्तम प्रदर्श
दलहन उत्पादन में मध्यप्रदेश ने सर्वोत्तम प्रदर्शन किया है। वर्ष 2014-15 में दालों का उत्पादन 48 लाख 28 हजार मीट्रिक टन था, जो वर्ष 2015-16 में बढ़कर 56 लाख 54 हजार मीट्रिक टन हो गया है। इस प्रकार पिछले साल के मुकाबले 17.11 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई। मोटे अनाज का उत्पादन भी अप्रत्याशित रूप से बढ़ा है। वर्ष 2014-15 में मोटे अनाज का उत्पादन 31 लाख 29 हजार मीट्रिक टन था, जो वर्ष 2015-16 में बढ़कर 45 लाख 67 हजार मीट्रिक टन हो गया है। इस प्रकार पिछली बार के मुकाबले 45.96 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।
खाद्यान्न उत्पादकता बढ़ी
खेती करने की सर्वोत्तम विधियाँ अपनाने से खाद्यान्न उत्पादकता में भी बढ़ोतरी हुई है। अब यह बढ़कर 2183 किलो प्रति हेक्टेयर हो गई है। पिछली बार वर्ष 2014-15 में खाद्यान्न उत्पादकता 1856 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर थी। इसी प्रकार गेहूँ की उत्पादकता बढ़कर 3115 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर हो गई है। पिछले साल यह 2850 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर थी। दालों की उत्पादकता में अप्रत्याशित वृद्धि हुई है। यह वर्ष 2015-16 में 980 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर हो गई है जो वर्ष 2014-15 में 876 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर थी। इस प्रकार 11.87 प्रतिशत तक की वृद्धि हुई है।
45,003 करोड़ के कृषि ऋण
किसानों को बेहतर साख सुविधा देने के लिए उठाये गए कदमों के निरंतर अच्छे परिणाम मिल रहे हैं। सहकारी बैंकों के माध्यम से वर्ष 2015-16 में 45003 करोड़ 25 लाख का सहकारी कृषि ऋण उपलब्ध करवाया गया, जो वर्ष 2014-15 में उपलब्ध करवाए गए कृषि ऋण 36583 करोड़ 18 लाख से 8420 करोड़ 07 लाख ज्यादा है।
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर किसानों को कई प्रकार की सुविधाएँ उपलब्ध करवाई जा रही हैं। इनमें सिंचाई, विद्युत, तकनीकी परामर्श, ब्याज रहित ऋण, मंडी प्रांगण में उपार्जन की ई-सुविधा मुख्य रूप से कृषि क्षेत्र में परिवर्तनकारी साबित हुई है।


पर्यावरण, मद्य निषेध, बेटी बचाओ और जल-संरक्षण का अर्थ जानने लगे ग्रामवासी
Our Correspondent :6 April 2017
“नमामि देवी नर्मदे”-सेवा यात्रा की मूल भावना को ग्रामवासी न सिर्फ समझ रहे हैं, बल्कि उसके अनुरूप अपनी भूमिका का निर्धारण भी कर रहे हैं। नरसिंहपुर जिले के ग्राम हीरापुर में आज कुछ ग्रामवासियों से बातचीत के दौरान यह जानने को मिला कि “नर्मदा सेवा यात्रा” एक कल्याणकारी सोच का परिणाम है। रायसेन जिले से नरसिंहपुर जिले में यात्रा के पहुँचने के पहले दोपहर से शाम तक अनेक ग्राम के लोग हीरापुर पंचायत की ओर से लगाए गए पंडाल में पहुँचने लगे। एक छोटी नदी सिंदूरी के किनारे हीरापुर से तीन किलोमीटर दूर बना स्वागत-स्थल एक मेले के रूप में परिवर्तित हो गया था।
नरसिंहपुर जिले के ग्राम तेन्दूखेड़ा के एक मजदूर खेमचंद से चर्चा करने पर पता चला कि वह इस यात्रा के उद्देश्य नदी स्वच्छता की भावना को खूब समझता है। खेमचंद के ही शब्दों में – “जा नदी साफ रऐगी तो हमीईरे काम आएगी।” नरसिंहपुर जिले के ही ग्राम टपरिया टर्रा के कृषक रामप्रसाद ने कहा कि “नर्मदा सेवा यात्रा” बहुत सारे पेड़ लगवाने के लिए हो रही है। बातचीत में रामप्रसाद सुझाव भी देते हैं कि फलदार पेड़ ज्यादा लगाए जाएं।
कक्षा दसवीं के विद्याथी देवेन्द्र पटेल और आकाश खोजा टपरिया के निवासी है। यह दोनों मित्र जिज्ञासा-वश हीरापुर पहुँचे थे। उन्होंने बताया कि इस यात्रा में प्रधानमंत्री के स्वच्छता अभियान का संदेश भी दिया जा रहा है। ग्राम हीरापुर में खेती-किसानी का कार्य करने वाले ओमकार ने बताया कि पढ़ाई-लिखाई के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए यह यात्रा हमारे गाँव आ रही है। “नर्मदा मैया को ठीक-ठाक रखने के लिए गाँव-गाँव जाकर समझाईश दी जा रही है।”
ग्राम धामा के कृषक रमेश केवट ने सलाह दी कि यात्रा में जो सरकारी अफसर आ रहे हैं, वो गाँव के स्कूल और सोसायटी का काम-काज देखने भी जाए, जिससे इनका काम ज्यादा अच्छी तरह से हो सके।
हीरापुर पंचायत के अलावा ग्राम पंचायत बंधी की ओर से भी यात्रा के स्वागत के लिए व्यवस्थाओं में सहयोग दिया गया। ग्रामवासियों ने पानी के टैंकर पर बोरों का आवरण बिछाकर पेयजल को तप्ती दुपहरी में गर्म होने से रोकने में सहयोग दिया। गाँव के बच्चों ने रांगोली और दीवार लेखन से साज-सज्जा कर नर्मदा यात्रा के स्वागत के लिए अपनी भावना व्यक्त की।
पर्यावरण, मद्य निषेध, बेटी बचाओ और जल संरक्षण का अर्थ जानने लगे हैं। ग्रामवासियों से बातचीत में यह बात उभरकर सामने आई ।



जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने दी रामनवमी पर्व की बधाई
Our Correspondent :5 April 2017
जनसंपर्क, जल-संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने रामनवमी पर्व पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएँ दी है। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा कि रामनवमी भगवान श्रीराम का जन्म-दिवस हैं। वास्तव में भगवान श्रीराम ने युग चरित्र को चरितार्थ किया था।
उन्होंने अपने कर्म और धर्म को जीवन का आधार बनाया था। इस कारण उन्हें मर्यादा पुरूषोत्तम राम भी कहा जाता है।
जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने भगवान श्रीराम के आदर्शों को जीवन में उतार कर नि:स्वार्थ समाज तथा देश की सेवा करने का आव्हान भी प्रदेशवासियों से किया।


ग्राम कैलकच्छ में यात्रा का स्वागत हुआ
Our Correspondent :5 April 2017
'नमामि देवि नर्मदे'-सेवा यात्रा मंगलवार दोपहर रायसेन जिले के उदयपुरा विकासखण्ड के ग्राम कैलकच्छ पहुँची। यात्रा का यहाँ आत्मीय स्वागत किया गया। यात्रा को जनता की ओर से पूरा सहयोग और समर्थन प्राप्त हो रहा है। ग्राम बौरात में कल रात्रि विश्राम के बाद आज नर्मदा सेवा यात्रा ग्राम चौरात, बारहेकला होते हुए दोपहर में कैलकच्छ पहुँची। नर्मदा सेवा यात्रियों को ग्राम कैलकच्छ के स्वयंसेवी बालकों ने अपने हाथ से भोजन परोसा।
यात्रा के जन-संवाद को जनपद अध्यक्ष श्री वीरेन्द्र ठाकुर सहित अन्य संतों ने संबोधित किया। ग्राम सरपंच श्री रामपाल सिंह के साथ ही जन अभियान परिषद के पदाधिकारियों ने जन-संवाद में हिस्सा लिया। ग्राम कैलकच्छ में निकटवर्ती गाँवों के लोग भी नर्मदा यात्रा के स्वागत के लिए पहुँचे थे।


प्रदेश के अधोसंरचना विकास में न्यू डेव्लपमेंट बैंक मदद करेगा
Our Correspondent :5 April 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की आज न्यू डेव्लपमेंट बैंक के वाइस प्रेसीडेंट श्री जियान झू के साथ बैठक हुई। मुख्यमंत्री ने प्रदेश में सड़कों के प्रोजेक्ट में मदद देने के लिये श्री झू का धन्यवाद किया। साथ ही उन्होंने कहा कि आगे भी मिलकर अधोसंरचना विकास के काम करेंगे। श्री झू ने मध्यप्रदेश में हुए विकास कार्यों की सराहना की।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि न्यू डेव्लेपमेंट बैंक की सहायता से विकासशील देशों को विकसित बनने में मदद मिलेगी। उन्होंने अधोसंरचना निर्माण की परियोजनाओं में मदद देने का आग्रह किया। श्री झू ने कहा कि भारत एवं मध्यप्रदेश के साथ मिलकर काम करने का अच्छा अनुभव रहा। आगे भी मिलकर काम करेंगे। उन्होंने मध्यप्रदेश को सहयोग देने का भरोसा दिलाया। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि तकनीक और ज्ञान को परस्पर साझा करेंगे। एक-दूसरे से सीखेंगे और मध्यप्रदेश में बेहतर से बेहतर काम करने का प्रयास करेंगे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में पिछले 10 वर्ष में अधोसंरचना निर्माण पर ज्यादा ध्यान दिया गया है। प्रदेश में सवा लाख किलोमीटर लम्बी सड़कें बनायी गई हैं। साथ ही सिंचाई का रकबा साढ़े 7 लाख हेक्टेयर से बढ़ाकर 40 लाख हेक्टेयर किया गया। बिजली की उपलब्धता 24 घंटे सुनिश्चित की गई। इससे कृषि की पैदावार बढ़ी और प्रदेश की कृषि विकास दर 20 प्रतिशत से ऊपर हो गयी। साथ ही विकास दर 10 प्रतिशत से ज्यादा रही। श्री चौहान ने कहा कि समूह पेयजल योजनाओं पर फोकस किया जा रहा है, जिसमें सतही जल का ज्यादा उपयोग किया जायेगा। श्री चौहान ने बताया कि नदी और पर्यावरण संरक्षण के लिये नर्मदा सेवा यात्रा चल रही है। उन्होंने नगरीय विकास कार्यों की भी जानकारी दी।
बैठक में मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए.पी. श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव लोक निर्माण श्री प्रमोद अग्रवाल, प्रमुख सचिव पीएचई श्री मनोज गोविल, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल और सचिव श्री विवेक अग्रवाल उपस्थित थे।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पूज्य संत श्री मोरारी बापू को शौर्य स्मारक की अवधारणा बतायी
Our Correspondent :4 April 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज परम पूज्य संत श्री मोरारी बापू के साथ शौर्य स्मारक का भ्रमण किया। उन्होंने श्री बापू को शौर्य स्मारक की अवधारणा बतायी। इस दौरान स्मारक परिसर में श्री बापू ने पीपल का पौधा रोप कर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस मौके पर आम का पौधा लगाया। उन्होंने श्री बापू को बताया कि राष्ट्र की सुरक्षा में अपने प्राणोत्सर्ग करने वाले वीर सैनिकों की स्मृति को सॅजोने और उनकी वीर गाथाओं से विद्यार्थियों और युवा पीढ़ी को अवगत कराने के लिए यह स्मारक बनाया गया है। यह शहीदों को राष्ट्र की ओर से विनम्र श्रद्धांजलि है। इस दौरान मुख्यमंत्री एवं श्री बापू ने शहीदों की स्मृति में श्रद्धा-सुमन अर्पित किये।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि विश्व के सबसे बड़े नदी संरक्षण अभियान नर्मदा सेवा यात्रा में भागीदारी के दौरान पूज्य बापू ने संकल्प लिया था कि वे मध्यप्रदेश से जाने के पहले भोपाल में वृक्षारोपण करेंगे, उसी संकल्प को पूरा कर जनता को भी वृक्षारोपण करने का संदेश दिया है। उन्होंने बताया कि नर्मदा के दोनों तट पर एक हजार किलोमीटर तक वृक्षारोपण कर नदी और पर्यावरण संरक्षण का ठोस कार्य किया जाएगा। उन्होंने बताया कि सरकारी भूमि के साथ किसानों को भी अपनी भूमि में वृक्षारोपण के लिए प्रेरित किया जा रहा है।


नर्मदा मैया से जुड़ी जैव-विविधता की वापसी के प्रयत्न होंगे
Our Correspondent :4 April 2017
रायसेन जिले में नर्मदा तट पर स्थित बोरास घाट पर 'नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा के जन-संवाद में आनंद मार्ग के संत स्वामी विमलानंद महाराज, सुप्रसिद्ध क्रिकेट कमेंटेटर श्री सुशील दोषी और जाने-माने गजल गायक श्री तलत अजीज ने नर्मदा नदी के संरक्षण के अभियान को अभिनंदनीय और महत्वपूर्ण बताया। अपने-अपने क्षेत्र की इन सुप्रसिद्ध हस्तियों ने नर्मदा संरक्षण अभियान के संचालन के लिये मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की भूरि-भूरि प्रशंसा की। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह श्री दत्तात्रेय होसबोले ने यात्रा को जनता में आशा और विश्वास का माहौल पैदा करने वाली बताया।
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि नर्मदा नदी के तटों पर एक समय ऐसी उपयोगी घास की प्रजातियाँ हुआ करती थीं, जो पशु चारे के लिए उपयोग में लाई जाती थी। यह हमारे प्रदेश की जैव-विविधता का एक विशिष्ट उदाहरण भी था। इस विशिष्टता को पुनः हासिल करने के लिए राज्य सरकार आवश्यक कदम उठाएगी। श्री चौहान ने बताया कि आगे आने वाले समय में क्षिप्रा, ताप्ती और बेतवा के संरक्षण के लिए भी ऐसे अभियान चलाये जायेंगे।
मुख्यमंत्री ने नर्मदा सेवा यात्रा को बहु-उद्देशीय और बहु-उपयोगी बताया। उन्होंने कहा कि सकारात्मक संदेशों के साथ शुरू हुई यह यात्रा पूर्ण होने की अवधि तक अपनी उपयोगिता बड़े वर्ग तक पहुँचायेगी।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आम जनता का आव्हान किया कि आगामी दो जुलाई को अमरकंटक से बड़वानी तक नर्मदा नदी के तट से एक-एक किलोमीटर दूर तक चलने वाले वृक्षारोपण कार्यक्रम में अपनी सहभागिता सुनिश्चत करें। इससे आगे आने वाले वर्षों में भी नर्मदा को वन पोषित जल मिलना सुनिश्चित होगा। श्री चौहान ने कहा कि आज मध्यप्रदेश में नर्मदा नदी से सिंचाई का 30 प्रतिशत काम संभव हुआ है। मध्यप्रदेश गेहूँ उत्पादन में पंजाब और हरियाणा से आगे बढ़ चुका है।
श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा ग्लेशियरों से निकल कर नहीं बहती बल्कि इसके किनारे लगे घने वृक्षों द्वारा वर्षा ऋतु में ग्रहण किये गये जल से अविकल बहती है। उन्होंने कहा कि नर्मदा नदी को साफ और सदा नीरा बनाये रखना जरूरी हो गया है। इसी पर प्रदेश के लोगों का जीवन निर्भर है। करीब पचपन नगरों की पेयजल की आपूर्ति करने वाली माँ नर्मदा को बचाये रखने के लिये ठोस और गंभीर प्रयास करना जरूरी है। सरकार यह काम अकेले नहीं कर सकती। समाज के सभी लोगों को आगे बढ़कर साथ देना होगा। उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा के बाद सभी के सहयोग से नर्मदा सेवा मिशन चलता रहेगा। इसके लिए नर्मदा तटों के किनारे आबादी वाले क्षेत्रों में नर्मदा सेवा समितियाँ बनायी गयी हैं। इन समितियों में सरकार सहयोगी की भूमिका में होगी। श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में जन सहयोग से नर्मदा संरक्षण अभियान बन गया।
नर्मदा सेवा माँ की सेवा समान - श्री होसबोले
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सर कार्यवाह श्री दत्तात्रेय होसबोले ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा ने नदी संरक्षण के लिए जनता में आशा और विश्वास का माहौल पैदा किया है। नर्मदा भौतिक जीवन के लिए आधार और आध्यात्मिक जीवन के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है। नर्मदा की सेवा मॉ की सेवा के समान है।
नदी संरक्षण का यह अभियान विश्व के लिये अनुकरणीय-स्वामी विमलानंद
आनंद मार्ग के संत स्वामी विमला नंद महाराज ने कहा कि विश्व में भारत ही एक मात्र ऐसा देश है जहाँ नदी को माँ का दर्जा प्राप्त है। उन्होंने कहा कि बच्चों की पाठ्य-पुस्तकों में नर्मदा सेवा यात्रा का उल्लेख होना चाहिए ताकि आगे आने वाली पीढ़ियों को नदी संरक्षण का महत्व समझ में आए। आजाद भारत में पहली बार नदी संरक्षण का प्रयास मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा किया जा रहा है। वह पूरे विश्व के लिए अनुकरणीय है।
नर्मदा यात्रा से दाण्डी यात्रा का स्मरण-श्री सुशील दोषी
सुप्रसिद्ध क्रिकेट कमेंटेटर श्री सुशील दोषी ने कहा कि नर्मदा यात्रा से उन्हें गांधी जी की दांडी यात्रा का स्मरण हो रहा है जो व्यापक उद्देश्यों को लेकर निकाली गई थी। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नर्मदा मैया के संरक्षण के लिए आम जनता के साथ पशु-पक्षियों के हित में यह महत्वपूर्ण अभियान संचालित किया है। नर्मदा नदी सभी को पानी देने के साथ ही समृद्धि का आशीर्वाद भी देती है। यह सिर्फ एक नदी के संरक्षण का अभियान न होकर संपूर्ण प्रकृति के संरक्षण का अभियान है।
नर्मदा सेवा यात्रा में हाथ मिला के चलो-श्री तलत अजीज
जाने-माने ग़जल गायक श्री तलत अज़ीज ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा निकालने के लिए मुख्यमंत्री श्री चौहान विशेष बधाई के पात्र हैं। यह कदम दूरदर्शी होने का प्रमाण है। श्री तलत अजीज ने बताया कि उन्होंने नर्मदा मैया पर एक रचना भी तैयार की है। श्री अजीज ने गज़ल गायन के अंदाज में गीत- “कदम मिलाके चलो, अब कदम मिलाके चलो, नर्मदा सेवा यात्रा में हाथ मिला के चलो, ये देश ऋषियों-संतो का है, ये देश गाती झूमती नदियों का है, कदम मिला के चलो…” सस्वर गाकर भी सुनाया।
'रेवा महिमा'' पुस्तिका का विमोचन
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शुरू में नमामि देवि नर्मदे यात्रा की जिला आयोजन समिति द्वारा प्रकाशित जिले के पौराणिक घाटों एवं प्रमुख पर्यटन-स्थलों पर पुस्तिका 'रेवा महिमा'' का विमोचन किया।
जन-संवाद में लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, जिला प्रभारी राज्य मंत्री श्री सूर्यप्रकाश मीणा, सांसद श्री उदय प्रताप सिंह, विधायक श्री रामकिशन पटेल, श्रीमती ममता मीणा, श्री अवधेशपुरी महाराज, श्री अखिलेशानंद महाराज सहित प्रदेश के विभिन्न अंचल से नर्मदा उप यात्रा लेकर आए नर्मदा सेवक उपस्थित थे।


विलीनीकरण आंदोलन के शहीदों को भी याद किया गया यात्रा में
Our Correspondent :4 April 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने नर्मदा सेवा यात्रा के रायसेन जिले के बोरास पहुँचने पर बोरास की धरती पर प्राणोत्सर्ग करने वाले चार नौजवानों को भी शिद्दत से याद किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिन युवाओं ने 14 जनवरी 1949 को विलीनीकरण आंदोलन के दौरान अपने सीने पर गोली खाकर राष्ट्र के लिए बलिदान किया, उन्हें सदैव याद किया जाएगा।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि ग्राम बोरास के शहीद श्री छोटेलाल और श्री धनसिंह के अलावा श्री मंगल सिंह और श्री विशाल सिंह ने अपने जीवन की कुर्बानी देश के लिये दी। ऐसे शहीदों को कोई भुला नहीं सकता। जब अनेक रियासतें भारतीय संघ में विलय के लिये तैयार नहीं थीं और जनता में पूरी आजादी की न सिर्फ चाह थी बल्कि राष्ट्र के स्वाभिमान के लिए देश भर में युवाओं में जोश की लहर थी, तब भोपाल रियासत में नवाबी शासन की समाप्ति के लिए बोरास, उदयपुरा और बरेली क्षेत्र में नागरिक जागरूक और सक्रिय थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज बोरास के शहीदों को आदरांजलि देते हुए नर्मदा सेवा यात्रा में आये विशिष्ट अतिथियों को इतिहास के इस अविस्मरणीय अध्याय की जानकारी भी दी।


अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी विश्वविद्यालय से चिकित्सा, अभियांत्रिकी, विज्ञान महाविद्यालय संबंद्ध होंगे
Our Correspondent :3 April 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी विश्वविद्यालय से एक-एक मेडिकल कॉलेज, अभियांत्रिकी, विज्ञान और कला महाविद्यालय को संबद्ध किया जायेगा। इनमें हिन्दी भाषा में पढ़ाई होगी। श्री चौहान ने कहा कि हिन्दी भाषा को प्रतिष्ठा देने और आगे बढ़ाने के लिये विश्वविद्यालय के माध्यम से अकादमिक यात्रा निरंतर जारी रहेगी। इसके लिये बजट प्रावधान भी बढ़ाया जायेगा। श्री चौहान आज मंत्रालय में विश्वविद्यालय की सालाना परिषद की चौथी बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।
श्री चौहान ने कहा कि विश्वविद्यालय की स्थापना के उद्देश्य को पूरा करने में सरकार की ओर से हर प्रकार की सहायता दी जायेगी।
विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. मोहन लाल छीपा ने बताया कि आगामी 18 अप्रैल को विश्वविद्यालय का दीक्षांत समारोह होगा। इसमें स्वामी श्री गोविंद गिरि को मानक उपाधि से सम्मानित किया जायेगा। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा 250 पाठ्यक्रम हिन्दी भाषा में तैयार कर लिये गये हैं। बैठक में परिषद के सदस्य और विभिन्न विश्वविद्यालय के कुलपति उपस्थित थे।


14 अप्रैल से 31 मई तक चार चरण में चलेगा ग्रामोदय से भारत उदय अभियान
Our Correspondent :3 April 2017
प्रदेश में 14 अप्रैल से 31 मई तक चार चरण में ग्रामोदय से भारत उदय अभियान चलेगा और 15 अप्रैल से 2 मई तक कृषि महोत्सव मनाया जायेगा। इसके लिये सभी तैयारियाँ पूरी कर ली गई हैं। ग्रामोदय अभियान का शुभारंभ डॉ. बाबा साहेब अम्बेडकर जयंती पर उनकी स्मृति को नमन करने के साथ होगा। दूसरा चरण 15 से 30 अप्रैल तक चलेगा। तीसरा चरण एक से 21 मई और चौथा चरण 22 से 31 मई तक चलेगा। जिलों के प्रभारी मंत्री इस अभियान की शुरूआत करेंगे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज मंत्रालय में तैयारियों की समीक्षा करते हुए हर गाँव में जल का कम से कम एक स्त्रोत विकसित करने या जीवित करने पर ध्यान देने के निर्देश दिये। उन्होंने ग्रामीण महिलाओं के स्व-सहायता समूहों को आर्थिक रूप से सुदृढ़ बनाने की रणनीति बनाने के भी निर्देश दिये।
ग्राम संसदों का आयोजन
अभियान के दौरान ग्राम संसदों का आयोजन किया जायेगा। अधोसंरचना विकास, ग्रामीण विकास की विभिन्न योजना के हितग्राहियों का चयन, अभियान की गतिविधियों की समीक्षा और कार्यवाही प्रतिवेदन पर चर्चा की जायेगी। पिछले साल सफलता से संपन्न ग्रामोदय अभियान में उत्कृष्ट काम करने वाले जिला कलेक्टरों, अधिकारियों और कर्मचारियों को पुरुस्कृत किया जायेगा। अभियान में राजस्व, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, कृषि, महिला-बाल विकास, स्वास्थ्य विभागों के सहयोग से गतिविधियाँ क्रियान्वयित की जायेंगी। ग्राम संसदों में कृषि आय को दोगुनी करने की कार्य-योजना पर चर्चा होगी और इसे अंतिम रूप दिया जायेगा।
ग्रामीण विकास एवं समृद्धि से जुड़े कार्यक्रमों और योजनाओं में अगले दो वर्ष की कार्य-योजनाएँ बनायी जायेंगी। ग्राम पंचायत स्तर पर गतिविधियों के लिये नोडल अधिकारियों की नियुक्ति, ग्राम पंचायत संकुलों का गठन, संभागीय और जनपद स्तर पर प्रशिक्षणों का आयोजन हो चुका है। जिला स्तरीय निगरानी और समीक्षा समितियों का गठन किया गया है।
अभियान में गाँवों के स्वच्छता प्लान, जल संरचनाओं के जीर्णोद्धार, जलाभिषेक कार्यक्रम की तैयारी, गाँवों में गरीबी उन्मूलन की दीनदयाल अंत्योदय योजना जैसे कार्यक्रम, मनरेगा में किये जाने वाले कार्य, प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों का चयन, गाँव को खुले में शौच जाने से मुक्त बनाने का अभियान, ग्रामीण विकास के विभिन्न योजना के नये हितग्राहियों की पहचान करने, महिलाओं का स्वस्थ्य परीक्षण, बच्चों में कुपोषण के प्रति जागरूकता लाने, कृषि ग्राम सभाओं का आयोजन जैसी गतिविधियाँ संचालित की जायेंगी।
कृषि महोत्सव 15 अप्रैल से
ग्रामोदय अभियान के शुभारंभ के एक दिन बाद 15 अप्रैल से कृषि महोत्सव की भी शुरूआत हो रही है। पाँच वर्ष में किसानों की आमदनी दोगनी करने, खेती के नये तरीकों की जानकारी देने, माँग के अनुरूप कृषि उपज की बोनी करने, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ लेने, जैविक खेती को अपनाने, मृदा स्वास्थ्य कार्ड वितरण करने जैसी गतिविधियाँ संचालित की जायेगी। पूरे प्रदेश में 600 से ज्यादा कृषि क्रांति रथ किसानों को जागरूक बनायेंगे। इन रथों के माध्यम से किसानों को खेती की नई तकनीकी की जानकारी और परामर्श दिया जायेगा। सभी किसानों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड उपलब्ध करवाया जायेगा।
कृषि महोत्सव में ग्राम पंचायत, विकासखंड और जिला स्तरीय कार्यक्रमों की श्रंखला बनायी गई है। हर जिले में कृषि मेलों का आयोजन किया जायेगा। कृषि संबंधी और किसानों से जुड़ी समस्याओं के समाधान के लिये पंचायत एवं ग्रामीण विकास, राजस्व, पशुपालन, सहकारिता, उद्यानिकी, ऊर्जा, आदिम जाति कल्याण विभागों से समन्वय स्थापित किया गया ताकि तत्काल इनकी समस्याओं का समाधान हो सके।
बैठक में मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, अपर मुख्य सचिव ग्रामीण विकास श्री राधेश्याम जुलानिया एवं संबंधित विभागों के प्रमुख सचिव उपस्थित थे।


केन्द्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती और स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती यात्रा में भाग लेंगे
Our Correspondent :3 April 2017
केन्द्रीय जल-संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्री सुश्री उमा भारती 6 अप्रैल को नरसिंहपुर जिले के बरमान घाट और शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती 9 अप्रैल को नीमखेड़ा (हीरापुर) में जन-संवाद कार्यक्रम में भाग लेंगे। यात्रा आज 107 दिन पूरे कर 16 वें जिले रायसेन में संचालित है। यात्रा ने 3 अप्रैल तक 623 गाँव, 434 ग्राम पंचायत और 51 विकासखंड से गुजर कर 2526 किलोमीटर की दूर तय कर ली है।
शंकराचार्य ने किये पूर्व निर्धारित कार्यक्रम निरस्त
स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती द्वारा मुख्यमंत्री श्री चौहान को भेजे गये संदेश में कहा गया है कि उन्होंने नर्मदा सेवा यात्रा में आमंत्रण के चलते अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों को निरस्त करते हुए नवरात्रि महानुष्ठान निकटवर्ती परमहंसी गंगा आश्रम में ही करने का निर्णय लिया है। पत्र में कहा गया है कि नर्मदा सेवा यात्रा के नरसिंहपुर जनपद के अंतिम पड़ाव के रूप में आदि गुरु शंकराचार्य की संन्यास स्थली का चयन किये जाने से हार्दिक प्रसन्नता हुई है।
किसी मुख्यमंत्री द्वारा नर्मदा परिक्रमा की यह अभूतपूर्व घटना
पत्र में कहा गया है कि धर्मनिरपेक्ष संविधान आधारित लोकतंत्र के ज्ञात इतिहास में यह अभूतपूर्व घटना है कि किसी मुख्यमंत्री ने नर्मदा की परिक्रमा समारोहपूर्वक की हो। इस यात्रा से आपने नर्मदा को बहुत निकट से देखा है। नर्मदा की अविरल धारा नर्मदा जल प्रदूषण एवं घाटों की गरिमा के लिये की गई घोषणाएँ आपको चिर-यशस्वी बनायेंगी। घाटों से शराब की दुकानें हटाने का निर्णय इसी एक कड़ी में सम्मिलित है। नर्मदा तटद्रुमा नदी है। इसके किनारे वृक्षारोपण का अभियान चलाकर आपने नर्मदा के पौराणिक स्वरूप का संरक्षण किया है।
नर्मदा विश्व की सबसे प्राचीन नदी है। स्वयं आदि गुरु शंकराचार्य के गुरु गोविन्द भगवत्पाद नर्मदा के किनारे कब से समाधिस्थ थे, अब तक अज्ञात है। उक्त गुफा की खोज स्वामी शंकराचार्य ने की और श्रृंगेरी के शंकराचार्य ने भी इस गुफा का दर्शन कर इसे आदि गुरु का संन्यास स्थल माना।
अभ्युदय की कामना
नर्मदा सेवा यात्रा के अवसर पर आपका (मुख्यमंत्री श्री चौहान) प्राचीन गुरु गुफा दर्शनपूर्वक उत्तर तट पर नर्मदा महाआरती एवं धर्म सभा में हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन है। शंकराचार्य ने पत्र में आशा व्यक्त की है कि आप (मुख्यमंत्री) भारतीय संस्कृति जिससे जन्म लेती है ऐसी पुण्यतोया नदियों को शासकीय संरक्षण देते हुए राजधर्म का निर्वहन करते रहेंगे, इस आशा से आपके अभ्युदय की कामना करते हैं।


दुराचारियों को मृत्यु दण्ड का विधेयक मानसून सत्र में आएगा
Our Correspondent :31 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि बालिकाओं के साथ दुराचार करने वाले को मृत्युदण्ड देने का विधेयक विधानसभा के आगामी मानसून सत्र में प्रस्तुत किया जाएगा। पारित होने के बाद उसे राष्ट्रपति को भेजा जाएगा। श्री चौहान आज म.प्र. पुलिस अकादमी में पुलिसकर्मियों के संयुक्त दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में महापौर श्री आलोक शर्मा, अपर मुख्य सचिव गृह श्री के.के. सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला एवं वरिष्ठ पुलिस अधिकारी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पुलिस की सेवा समाज की सुरक्षा का संकल्प हैं। पुलिस सेवा को स्वीकारना देश और समाज के लिए अपनी जिन्दगी को सौंपना है। देश-प्रदेश के विकास की पहली शर्त है कि कानून और व्यवस्था बेहतर हो। यह जिम्मेदारी पुलिस के कंधों पर है। पुलिस की सेवा जनता की सेवा के लिए है। यह जरूरी है कि पुलिस का व्यवहार जनता के लिए फूल सा कोमल, अपराधियों के लिए वज्र सा कठोर हो।
मुख्यमंत्री ने नवदीक्षित पुलिसकर्मियों से कहा कि पुलिस उनकी दूसरी माता है। उसका मान-सम्मान रखना उनका परम कर्त्तव्य है। उसकी लाज बनाए रखने के लिए जरूरी है कि उसकी छवि धूमिल नहीं हो। पुलिस को भ्रमित करने की कोशिशें भी होती हैं, उनसे सावधान सजग और सतर्क रहें। थानों की छवि ऐसी हो कि जनता को वहाँ पर राहत, सुरक्षा और सुकून मिलें। जनता को थाने में आने में झिझक नहीं हो। अपराधी आस-पास फटकने में भी घबराएं। अपराधियों को किसी भी स्थिति में नहीं छोड़ना है। वे देश-समाज के दुश्मन हैं, माफी के योग्य नहीं हैं। पुलिस की आवश्यकताओं को पूरा करने में सरकार का पूरा सहयोग है। पुलिस के 30 हजार नए पद स्वीकृत किए गए हैं। कुल 25 हजार नए पुलिस आवास बनवाये जा रहे हैं। सी.सी.टी.वी. कैमरे और अन्य सुविधाएँ भी उपलब्ध कराई जा रही हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश को शांति का टापू बनाने का श्रेय पुलिस को है। उसे जब भी जो काम सौंपा गया, सफलतापूर्वक किया है। ट्रेन ब्लास्ट के अपराधियों को मात्र तीन घंटे के भीतर पकड़ने का कार्य किया है। उन्होंने कहा कि साहस, शौर्य, कर्त्तव्यनिष्ठा और पराक्रम में प्रदेश की बेटियाँ भी कम नहीं है। इसीलिए पुलिस के एक तिहाई पद उनके लिए आरक्षित कर दिये हैं। उन्होंने कहा कि किसी से डरकर आत्महत्या सभ्य समाज के लिए कलंक है। इसलिए आपराधिक तत्वों के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जाये। वातावरण ऐसा बनाए कि महिलाएँ कभी भी कहीं भी स्वतंत्र रूप से विचरण कर सके। उन्होंने पुलिस अकादमी, प्रशिक्षण और प्रशिक्षकों की सराहना करते हुए, उन्हें बधाई दी।
मध्यप्रदेश पुलिस अकादमी के निदेशक श्री सुशोभन बनर्जी ने बताया कि पहली बार पुलिस अकादमियों का संयुक्त दीक्षांत समारोह आयोजित किया गया है। इस 89वें दीक्षांत समारोह में कुल 633 पुलिसकर्मियों को मुख्यमंत्री ने विभाग में शामिल करने की औपचारिकता पूर्ण की। इनमें सूबेदार, उप निरीक्षक, उप निरीक्षक वि.स.ब.ल. और उप निरीक्षक विशेष शाखा शामिल हैं। इनमें 478 पुरूष एवं 155 महिला पुलिसकर्मी है। प्रारम्भ में मुख्यमंत्री ने परेड का निरीक्षण किया। सलामी ली। कार्यक्रम के अंत में अकादमी की स्मारिका का विमोचन किया। पासआउट पुलिसकर्मियों से परिचय प्राप्त किया।


यात्रा केवल कर्म कांड नहीं जल-संरक्षण की दिशा में गंभीर प्रयास-मुख्यमंत्री श्री चौहान
Our Correspondent :31 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नर्मदा सेवा यात्रा के उद्देश्यों को पूरा करने के लिये जन-सहभागिता जरूरी है। केवल सरकार अकेले इसे कर लें, यह मुश्किल है। इस यात्रा को जनता का भरपूर आशीर्वाद मिल रहा है। जनता का सहयोग नर्मदा को प्रदूषण से बचाने, नर्मदा में पानी की धारा लगातार बढ़े, नर्मदा तट पर धने छायादार पेड़ लगाये जाय, इस रूप में मिल सकता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज रायसेन जिले के घाट पिपरिया में यात्रा के जन-संवाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।
नीर, नारी और नदी के खोये सम्मान को पुनः प्रतिष्ठित करने का अभियान है यात्रा-राजेन्द्र सिंह
मैगसेसे पुरूस्कार विजेता प्रसिद्व पर्यावरण विद् श्री राजेन्द्र सिंह ने कहा कि नीर, नारी, और नदी के खोये हुए सम्मान को पुनः प्रतिष्ठित करने का काम मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने शुरू किया है। अन्य प्रदेशों के राजनेताओं को उनसे सीख लेनी चाहिये। यह अभियान मात्र औपचारिकता नहीं है बल्कि नदी संरक्षण के महत्वपूर्ण कार्य को पूरा करने समाज के सभी वर्गों को एक साथ जोड़ने का प्रयास है। उन्होंने कहा कि विश्व को प्रदूषित होते पर्यावरण से बचाना है तो हम सभी को मिल-जुल कर कार्य करना होगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि नर्मदा सहित प्रदेश की अन्य नदियों में जल-प्रवाह निरंतर कम हो रहा है। तवा,बेतवा में पानी केवल बरसात के मौसम में ही देखने को मिलता है। जनता से अपील है कि वे नदी सहित अन्य जल-स्त्रोतों को बचायें। वर्षा ऋतु में जल को व्यर्थ न बहने दें। अगर नदी सरंक्षण के काम में हम समय रहते नहीं चेते तो आने वाली पीढियाँ हमें माफ नहीं करेंगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि नर्मदा यात्रा जन-आंदोलन बन गयी है। मॉ नर्मदा को संरक्षित और सवंर्धित करने का संकल्प लेने के लिये लोग निरंतर आगे आ रहे हैं। श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा के किनारे बसे शहरों के अपशिष्ट जल को सीवेज ट्रीटमेन्ट प्लाटों के माध्यम से साफ कर इसे सिंचाई के योग्य बनाया जायेगा। किसी भी स्थिति में नालों का प्रदूषित पानी नर्मदा में नहीं मिलने दिया जायेगा। नर्मदा तट पर बसे किसानों को जैविक खेती के लिये प्रोत्साहित किया जायेगा, ताकि रासायनिक उर्वरक से होने वाला प्रदूषण भी रोका जा सके। इस कार्य में सामाजिक संगठनों का सहयोग भी लिया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा कर्म कांड नहीं है बल्कि नदी जल-संरक्षण के प्रति लोगों में चेतना पैदा करने का विनम्र प्रयास है। नर्मदा के आशीर्वाद से प्रदेश का सिंचाई रकबा और जल विघुत का उत्पादन बढ़ा है।
नदी संरक्षण का कार्य अकल्पनीय- पं. जसराज
सुप्रसिद्व संगीतज्ञ पं. जसराज ने कहा कि नदी संरक्षण के लिये मुख्यमंत्री श्री शिवराज चौहान द्वारा समाज को साथ लेकर जो कार्य किया जा रहा है, वह अकल्पनीय है। दुनिया भर में नदियाँ हैं, जो प्रदूषण का शिकार हो रही हैं। ऊर्जावन मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने नर्मदा संरक्षण का जो कार्य हाथ में लिया है, वह विशेष रूप से सराहनीय है। नदियों को प्रदूषणमुक्त करना हम सभी का कर्त्तव्य है।
आंरभ में नर्मदा यात्रा के कलश एवं ध्वज का पूजन मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान एवं साधु-संतों ने किया। जन-संवाद के बाद नर्मदा आरती में बड़ी संख्या में लोगों ने श्रद्धा से भाग लिया।
कार्यक्रम में पूर्व राज्यसभा सांसद श्री कैलाश सारंग, सहकारिता एवं गैस राहत राज्य मंत्री श्री विश्वास सांरग, सध्वी प्रज्ञा भारती, प्रख्यात संगीतज्ञ पंडित जसराज, दुर्गा जसराज, प्रसिद्व पर्यावरणविद एवं मैग्सेसे पुरूस्कार विजेता श्री राजेन्द्र सिंह, विधायक श्री रामकिशन पटेल सहित अनेक जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे। संचालन खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे ने किया।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अजमेर शरीफ के लिये चादर रवाना की
Our Correspondent :31 March 2017
हजरत ख्वाजा गरीब नवाज रहमत रहमतउल्लाह अलेह अजमेर के 805 वें उर्स मुबारक मौके पर आज यहाँ मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अजमेर शरीफ के लिये चादर रवाना की। उन्होंने उर्स शरीफ में आने वाले सभी जायरीनों को मुबारकबाद दी।
पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्ययक वित्त विकास निगम के उपाध्यक्ष श्री एस. के. मुद्दीन को श्री चौहान ने चादर सौंपी। वे जायरीनों के साथ चादर लेकर अजमेर शरीफ रवाना होंगे। इस अवसर पर श्री शाहरूख मुद्दीन अध्यक्ष सर्वधर्म युवा शक्ति, श्री अलीम कुरैशी, हारून जावेद सौदागर मुशर्रफ खान उपस्थित थे।


मेधावी छात्र प्रोत्साहन योजना में 75 प्रतिशत से अधिक अंक वाले विद्यार्थी पात्र होंगे
Our Correspondent :30 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि व्यक्तित्व के संपूर्ण विकास के लिए पढ़ने के साथ खेलना भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए खेल अत्यंत जरूरी है। श्री चौहान आज मुख्यमंत्री निवास में विद्या भारती मध्य भारत प्रांत द्वारा संचालित शिक्षण संस्थाओं की खेल प्रतिभाओं को संबोधित कर रहे थे।
श्री चौहान ने कहा कि राष्ट्र के पुनर्निर्माण के प्रकल्पों में सहयोग करना सरकार का कर्त्तव्य है। समाज के ऐसे हर प्रयास को सरकार का सहयोग मिलेगा। विद्याभारती सीमित संसाधनों में भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कारों के निर्माण का कार्य कर रही है। संस्था के प्रयासों में सरकार का पूरा सहयोग रहेगा। स्कूल शिक्षा विभाग के साथ इसकी रूपरेखा तैयार होगी। उन्होंने कहा कि भारत का भविष्य बच्चों में है।
उन्होंने मुख्यमंत्री मेधावी छात्र प्रोत्साहन योजना की जानकारी देते हुए कहा कि बारहवीं में 75 प्रतिशत से अधिक अंक पाने वाले विद्यार्थी इसके पात्र होंगे। उनके पालकों की आय 6 लाख रूपये वार्षिक से अधिक नहीं होना चाहिए। ऐसे विद्यार्थियों का शासकीय, मेडिकल, इंजीनियरिंग, प्रबंधन, विधि और निजी क्षेत्र के चिन्हित इंजीनियरिंग, मेडिकल कॉलेज और अन्य शिक्षण संस्थान में प्रवेश होने पर उनकी फीस राज्य सरकार भरेगी। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण समय की जरूरत है। नर्मदा सेवा यात्रा नदी संरक्षण का अनुष्ठान है। आगामी दो जुलाई को नर्मदा के दोनों तट पर पौधरोपण किया जायेगा। इस दिन पौधे लगाकर इस अनुष्ठान में सहयोग के लिए उन्होंने विद्या भारती से अनुरोध किया।
श्री चौहान ने चैत्र-नवरात्र और नववर्ष की शुभकामनाएँ दी और कार्यक्रम में मौजूद लोगों का आव्हान किया कि वे बेटियों के मान-सम्मान के प्रति संकल्पित हो। उनके प्रति शुद्ध और पवित्र दृष्टि रखें। बेटियों के प्रति सम्मान के भाव को प्रगट करते हुए उन्होंने बताया कि नर्मदा यात्रा के प्रारम्भ में कन्या के चरण धोकर, उसके जल को मस्तक से लगाते हैं। इससे उनमें नई शक्ति और ऊर्जा भर जाती हैं। महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए शिक्षा विभाग में 50 तथा शेष विभाग (वन छोड़कर) में 33 प्रतिशत पद महिलाओं के लिए आरक्षित हैं। श्री चौहान ने स्वच्छता अभियान के प्रति संकल्पित होने का आव्हान किया तथा पदक विजेताओं को शुभकामनाएँ दी। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री को श्री भागीरथ कुमरावत ने गुणवत्तापूर्ण शिक्षा में हिन्दी भाषा की पाठ्य-पुस्तकों की भूमिका पर किया गया शोध-प्रबंध भेंट किया।
स्कूल शिक्षा मंत्री श्री कुँवर विजय शाह ने कहा कि शिक्षकों की विद्यालय में उपस्थिति को सुनिश्चित करने के लिए नियंत्रण प्रकोष्ठ बनाया गया है। इसका दूरभाष क्रमांक सभी एक लाख 18 हजार शासकीय शाला में अंकित रहेगा। शाला में उपस्थित नहीं होने वाले शिक्षक की जानकारी कोई भी प्रकोष्ठ को दे सकेगा। नियंत्रण प्रकोष्ठ मोबाइल फोन के माध्यम से शिक्षक की उपस्थिति की जानकारी लेगा। स्कूल शिक्षा विभाग के कार्यक्रमों में अतिथियों का स्वागत अब फूल-माला और पुष्प-गुच्छ से नहीं बल्कि उनका अभिनंदन पुस्तकें भेंटकर किया जायेगा।
विद्या भारती के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. गोविन्द प्रसाद शर्मा ने बताया कि विद्यालय के विद्यार्थी सभी बोर्ड की परीक्षाओं में प्रावीण्य-सूची में आए हैं। शिक्षा की गुणवत्ता संस्थान की पहचान है। स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय सचिव श्री राजेश मिश्रा ने बताया कि दो अप्रैल से एशियन स्कूल गेम्स हॉकी प्रतियोगिता होगी। फेडरेशन राष्ट्रीय प्रतियोगिता के आयोजन और खेल प्रतिभाओं के प्रोत्साहन के लिए विद्या भारती को सम्मानित करेगी। इस अवसर पर राष्ट्रीय सह-संगठन मंत्री श्रीराम अरावकर भी उपस्थित थे।
स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के सह सचिव श्री मुक्तेश सिंह ने बताया कि राष्ट्रीय शालेय खेलकूद प्रतियोगिताओं में विद्या भारती ने देशभर में 180 से अधिक पदक प्राप्त कर कीर्तिमान स्थापित किया है। इसमें मध्यप्रदेश के 16 जिलों ने सहभागिता करते हुए स्वर्ण-17, रजत-28, कांस्य-57 कुल 102 पदक प्राप्त किए है। इस वर्ष 305 छात्र एवं 129 छात्राओं सहित कुल 434 खिलाड़ियों ने प्रतियोगिताओं में सहभागिता की।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पूज्य मोरारी बापू वाचित श्री रामकथा का श्रवण किया
Our Correspondent :30 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आज पूज्य मोरारी बापू वाचित श्री रामकथा महोत्सव में शामिल हुए। उन्होंने 'मानस में विष्णु पर केंद्रित आत्मिक-तात्विक चिंतन' का श्रवण किया।
पूज्य मोरारी बापू ने कहा कि भोपाल से प्रस्थान से पहले वे 11 पौधों का रोपण करेंगे। उन्होंने श्रोताओं का आव्हान किया कि रामनवमी पौध-रोपण कर मनायें। रामनवमी के दिन एक पौधे का रोपण अवश्य करें। उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा के कार्यक्रम में शामिल होने के बाद 'सर्वजन-हिताय सर्वजन-सुखाय' सूत्र को विस्तारित किया है। उसे सर्वभूत-हिताय, सर्वभूत-सुखाय, सर्वभूत-प्रियाय: कर दिया है। प्रकृति में केवल जन ही नहीं, धरती, नदी, आकाश आदि भी है। सबके हित, सुख की कामना की जानी चाहिए। उनसे प्रेम करना चाहिए।
पूज्य मोरारी बापू ने कहा कि नदी का भी व्यक्त्वि है। हमें उसके सुख और हित की चिंता करने के साथ ही उससे प्रेम भी करना चाहिए। उन्होंने कहा कि नर्मदा नदी से भी प्रेम करें। ऐसा पूजा-पाठ और कार्य नहीं करे जिससे नदी प्रदूषित हो। उन्होंने अपील की है कि नर्मदा में शव प्रवाहित नहीं करें। देश और प्रांत को हरा-भरा बनाने में प्रत्येक व्यक्ति योगदान करें। उन्होंने बताया कि प्रदेश में नर्मदा तट पर आगामी 2 जुलाई को करोड़ों पौधों का रोपण हो रहा है। मध्यप्रदेश और भोपाल हिन्दुस्तान का हृदय है। इसे अधिक से अधिक हरा-भरा बनाया जाये।
रामकथा महोत्सव में पूज्य मोरारी बापू ने 'मानस में विष्णु पर केन्द्रित आत्मिक-तात्विक चिंतन' के दौरान गुरू को ही दशावतार बताया। उन्होंने कहा कि गुरू व्यक्ति नहीं, अस्तित्व है। इसीलिये वह सहानुभूति नहीं, समानभूति वाला बुद्ध पुरुष होता है।


महिलाओं के रोजगार अवसर बढ़ाने लागू होगी कौशल्या योजना
Our Correspondent :30 March 2017
प्रदेश में महिलाओं को रोजगार अवसर बढ़ाने के लिए आगामी वित्त वर्ष से कौशल्या योजना लागू की जा रही है। योजना में हर साल 2 लाख महिलाओं को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य रखा गया है।
तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री दीपक जोशी ने बताया है कि योजना में औपचारिक शिक्षा प्रणाली को छोड़ चुकी महिलाएँ, ऐसी कामगार महिलाएँ जो अपने अनौपचारिक कौशल का प्रमाणीकरण करवाना चाहती हैं और ऐसी कामगार महिलाएँ जो अपने कौशल को बढ़ाना चाहती हैं, को प्राथमिकता दी जायेगी। नक्सलवाद प्रभावित क्षेत्र की महिलाओं को आवासीय प्रशिक्षण दिया जायेगा।
महिलाओं को परिधान एवं गृह सज्जा, आटो मोबाइल्स, सौंदर्य प्रसाधन, केपिटल गुड्स, निर्माण, घरेलू काम-काज, इलेक्ट्रॉनिक्स और हाईवेयर, फूड प्रोसेसिंग, हेल्थ केयर, रिटेल, आई.टी. सुरक्षा, टेलीकॉम, टूरिज्म एण्ड हा‍स्पिटेलिटी एवं वित्त सेवा से संबंधित प्रशिक्षण दिलवाया जायेगा। नेशनल स्किल क्वालीफिकेशन फ्रेमवर्क (एनएसक्यूएफ) के आधार पर कौशल दक्षता के स्तर निर्धारित किए गए हैं। ऐसे कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम भी संचालित किये जायेंगे, जिनके लिए रोजगार देने वाले सुनिश्चित रोजगार देने के लिए अनुबंध करेंगे।


मुख्यमंत्री के नेतृत्व में सीहोर जिले से रायसेन जिले के लिये विदा हुई यात्रा
Our Correspondent :29 March 2017
सीहोर जिले के नर्मदा तटीय सीमांत गाँव बम्होरी में हजारों लोगों की उपस्थिति में आज शाम अविस्मरणीय हो गई नर्मदा यात्रा। अवसर था जिले से दस दिवसीय नर्मदा सेवा यात्रा के प्रस्थान का। यात्रा की जिले से विदाई मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में हुई। मुख्यमंत्री यात्रा रथ पर ध्वज थामे हुए थे। रायसेन जिले की सीमा पर सीहोर के प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह ने रायसेन जिला प्रभारी मंत्री श्री सूर्य प्रकाश मीणा को यात्रा ध्वज प्रदान किया।
सीहोर जिले में 19 मार्च को छीपानेर से प्रविष्ट हुई यह पवित्र यात्रा नौ रात्रि विश्राम तथा दस जन संवाद के माध्यम से इक्यावन तटीय गाँवों में नर्मदा संरक्षण-संवर्धन सहित सामाजिक बुराइयों की समाप्ति के लिये नव-चेतना का संचार कर गई। यात्रा ने लोगों में गहरा कर्त्तव्य बोध जगाते हुए उन्हें दृढ़-संकल्पित किया माँ नर्मदा के संरक्षण-संवर्धन तथा सामाजिक बुराइयों के पूरी तरह से उन्मूलन के लिये। यात्रा के दौरान जन और तंत्र एकाकार हो उठा। हर एक का उत्साह, समर्पण तथा नर्मदा के प्रति कृतिज्ञ भाव अभूतपूर्व था। सही अर्थों में युग परिवर्तन हेतु एक जनांदोलन का यथार्थ स्वरूप यात्रा में पूरे समय दिखा।
सीहोर जिले से यात्रा के विदा होने और रायसेन जिले में प्रवेश पर वन विकास निगम अध्यक्ष श्री गुरू प्रसाद शर्मा, मार्कफेड अध्यक्ष श्री रमाकांत भार्गव, श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, भोपाल संभागायुक्त श्री आजातशत्रु श्रीवास्तव, सीहोर कलेक्टर डॉ. सुदाम खाडे, रायसेन कलेक्टर श्रीमती भावना वालिम्बे सहित जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


श्रीराम कथा से मोरारी बापू जी दिखाते है सत्य का मार्ग
Our Correspondent :29 March 2017
मानस मर्मज्ञ मोरारी बापू के श्रीमुख से आज यहाँ श्रीराम कथा महोत्सव का शुभारम्भ हुआ। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान शुभारम्भ सत्र में शामिल हुए।
उन्होंने कहा कि पूज्य मोरारी बापू श्री राम कथा के माध्यम से समाज को जीवन और सत्य का मार्ग दिखा रहे हैं।
उन्होंने गुरु और शिष्य संवाद का सन्दर्भ देते हुए कहा कि जब अंधकार और निराशा आती है, तो आत्मा का प्रकाश ही साथ देता है।
इस अवसर पर समाजसेवी श्री रमेश चंद्र अग्रवाल और बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे।


भारकच्छ कला के ग्रामीणों ने पुष्पवर्षा कर किया स्वागत
Our Correspondent :29 March 2017
नर्मदा सेवा यात्रा ने 11 दिसम्बर, 2016 को अमरकंटक से रवाना होने के 101 के दिन 16वें जिले रायसेन में प्रवेश किया। सीहोर जिले के ग्राम नांदनेर से कुसुमखेड़ा व बमोरी होते हुए यात्रा के साथ मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान रथ पर अपनी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह के साथ सवार होकर रायसेन जिले की सीमा पर स्थित ग्राम भारकच्छ कला पहुँचे। जहाँ कलेक्टर श्रीमती भावना वालिम्बे ने यात्रा की अगवानी की। जिले की सीमा पर सीहोर जिले के प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह ने यात्रा का ध्वज व नर्मदा कलश रायसेन जिले के प्रभारी मंत्री श्री सूर्यप्रकाश मीणा को सौंपा। भारकच्छ कला के ग्रामीण पुरूष व महिलाओं ने नर्मदा सेवा यात्रा में शामिल यात्रियों पर पुष्पवर्षा कर स्वागत किया।
रायसेन जिले में प्रवेश के समय जिले की सीमा पर स्वागत करने के लिये प्रभारी मंत्रीश्री सूर्यप्रकाश मीणा के साथ मध्यप्रदेश राज्य कृषि उद्योग विकास निगम के अध्यक्ष श्री रामकृष्ण चौहान, मध्यप्रदेश कर्मचारी कल्याण आयोग के अध्यक्ष श्री रमेश शर्मा, जिला केंद्रीय सहकारी बैंक के अध्यक्ष श्री शिवाजी पटेल के अलावा सैकड़ों ग्रामीणजन मौजूद थे।
यात्रा के आगे-आगे स्थानीय गुरूकुल विद्यालय का बैंड बजाता हुआ विद्यार्थियों का दल चल रहा था। उल्लेखनीय है कि रायसेन जिले में यात्रा 5 अप्रैल तक नर्मदा तट के विभिन्न ग्रामों से होते हुए उदयपुरा विकासखंड के ग्राम टिमरावन तक जायेगी तथा उसके बाद नरसिंहपुर जिले में प्रवेश करेगी।
इसके पूर्व मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्राम कुसुमखेड़ा व बमोरी में भी ग्रामीणों को संबोधित करते हुए नर्मदा सेवा यात्रा के उद्देश्यों के बारे में बताया और उनसे अपने खेतों की मेढ़ो पर वृक्षारोपण करने, नर्मदा तटों पर गंदी न करने नर्मदा जल को प्रदूषित न करने की अपील की।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गुड़ी पड़वा, चैती चाँद (चैटी चंड) पर दी बधाई
Our Correspondent :28 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेशवासियों को हिन्दू नव वर्ष गुड़ी पड़वा एवं चैती चाँद (चैटी चंड) की बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं। मुख्यमंत्री ने कामना की है कि नववर्ष सभी के जीवन में सुख, समृद्धि और शांति लायें।
श्री चौहान ने कहा कि गुड़ी पड़वा आध्यात्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण अवसर है। मुख्यमंत्री ने कहा कि चैत्र नवरात्र के प्रारंभ से आध्यात्मिक अनुष्ठान की भी शुरूआत हो रही है। आध्यात्मिक वातावरण में सभी नागरिकों की सुख-समृद्धि के लिए आदि शक्ति से प्रार्थना करने का यह पावन अवसर है। उन्होंने सभी नागरिकों के सुखी जीवन की कामना करते हुए गुड़ी पड़वा, चैती चाँद (चैटी चंड) को हर्षोल्लास से मनाने का आग्रह किया है।


उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल द्वारा प्रदेशवासियों को गुड़ी पड़वा और चैती चाँद पर्व की शुभकामनाएँ
Our Correspondent :28 March 2017
वाणिज्य,उद्योग,रोजगार तथा खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने गुड़ी पड़वा और चैती चाँद(चैती चंड) के पावन पर्व पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ देते हुए सबके मंगल की कामना की है।
श्री शुक्ल ने कहा कि भारत पर्वों का देश है तथा त्यौहार हमारी संस्कृति का एक अहम अंग है। उन्होंने कहा कि गुड़ी पड़वा पर्व से ही नव वर्ष का आरंभ होता है। उद्योग मंत्री श्री शुक्ल ने कहा कि आध्यात्मिक वातावरण में सभी की खुशहाली के लिए आदिशक्ति से प्रार्थना करने का यह पावन अवसर है।
उद्योग मंत्री ने चैती चाँद (चैती चंड) पर्व की बधाई देते हुए कहा कि जल-ज्योति, वरूणावतार, झूलेलाल सिंधी समाज के इष्ट देव है। भगवान झूलेलालजी के अवतरण को समाज चैती चाँद के रूप में मनाता है। उन्होंने कहा कि भगवान झूलेलाल ने समाज के सभी वर्गों को एक कड़ी में जोड़े रखने के लिए महान कार्य किये। उनके उपदेश आज भी प्रासंगिक है। श्री शुक्ल ने विश्वास व्यक्त किया कि यह पर्व प्रदेश में सुख-समृद्धि और सदभाव की भावना को सुदृढ़ बनायेगा।


विमुक्त, धुमक्कड़-अर्द्धधुमक्कड़ जनजाति के लिए बनाये जायेंगे 1050 आवास
Our Correspondent :28 March 2017
विमुक्त, धुमक्कड़-अद्धधुमक्कड़ जनजाति के लिए विमुक्त जाति आवास योजना में इस वर्ष प्रदेश में 1050 आवास बनाये जायेंगे। आवास निर्माण के लिए विभागीय बजट में 6 करोड़ 30 लाख का प्रावधान किया गया है।
आवास निर्माण के लिए हितग्राही को 60 हजार रूपये अनुदान तथा 10 हजार रूपये की राशि श्रम अनुदान के रूप में उपलब्ध करवायी जायेगी। प्रदेश में 51 जातियाँ विमुक्त, धुमक्कड़ एवं अर्द्धधुमक्कड़ जाति के रूप में मान्य की गई है। इनमें से 21 विमुक्त, 30 धुमक्कड़ एवं अर्द्ध-धुमक्कड़ जाति के रूप में मान्य है।


जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने किया शोक व्यक्त
Our Correspondent :27 March 2017
जनसंपर्क, जल-संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने संस्कृति आयुक्त श्री राजेश मिश्रा की माताजी श्रीमती माया मिश्रा के निधन पर दुख व्यक्त किया है।
मंत्री डॉ. मिश्र ने श्री राजेश मिश्रा के निवास जाकर शोक संवेदना व्यक्त की।
जनसंपर्क मंत्री ने स्व. श्रीमती माया मिश्रा की आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से विनती की है।


पिछड़ा वर्ग की पोस्ट-मेट्रिक छात्रवृत्ति के लिए 684 करोड़ का प्रावधान
Our Correspondent :27 March 2017
प्रदेश में पिछड़ा वर्ग के विद्यार्थियों को पोस्ट मेट्रिक छात्रवृत्ति देने के लिए राज्य सरकार ने विभागीय बजट में 684 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है। पिछले वर्ष इस योजना में 4 लाख 25 हजार पिछड़ा वर्ग के विद्यार्थी को पोस्ट मेट्रिक छात्रवृत्ति दी गई थी। पिछड़ा वर्ग पोस्ट मेट्रिक छात्रवृत्ति के लिए अभिभावकों की वार्षिक आय-सीमा एक लाख रुपये निर्धारित है।
पिछड़ा वर्ग के विद्यार्थियों को पोस्ट मेट्रिक छात्रवृत्ति समय से प्राप्त हो तथा छात्रवृत्ति स्वीकृति विवरण में पारदर्शिता लाने के लिये फार्म जमा करने की व्यवस्था को भी ऑनलाइन किया गया है। इस व्यवस्था से विद्यार्थी कहीं भी बैठकर कम्प्यूटर के माध्यम से छात्रवृत्ति फार्म जमा कर सकता है और छात्रवृत्ति की स्थिति ऑनलाइन जान सकता है।
राज्य छात्रवृत्ति
पिछड़ा वर्ग के कक्षा 6 से 12 तक के विद्यार्थियों को राज्य छात्रवृत्ति स्वीकृत की जाती है। इस वर्ष के लिए 161 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है। इससे लगभग 35 लाख विद्यार्थियों को लाभांवित करने का लक्ष्य है। पिछले वर्ष पिछड़े वर्ग के 34 लाख विद्यार्थियों को राज्य छात्रवृत्ति के रूप में 150 करोड़ 43 लाख की राशि का प्रावधान किया गया था।


विमुक्त, घुमक्कड़ एवं अर्धघुमक्कड़ की बस्ती विकास की योजना
Our Correspondent :27 March 2017
प्रदेश में विमुक्त, घुमक्कड़ एवं अर्द्धघुमक्कड़ जनजाति के लोगों की बस्ती में अधोसंरचना विकास के लिये इस वर्ष 4 करोड़ 65 लाख रुपये का प्रावधान रखा गया है।
विमुक्त, घुमक्कड़ एवं अर्द्धघुमक्कड़ बहुल बस्तियों, ग्राम, वार्ड, मोहल्ले, मजरे, टोलों एवं डेरों में मूलभूत सुविधाएँ जैसे सी.सी.रोड, नाली, सार्वजनिक शौचालय, पेयजल व्यवस्था, पुल-पुलिया आदि का निर्माण करवाया जायेगा।


दो जुलाई को नर्मदा किनारे 10 करोड़ पौधे रोपे जायेंगे
Our Correspondent :23 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि जल हमारी तो नर्मदा मध्यप्रदेश की जीवन रेखा है। नर्मदा सेवा यात्रा का मुख्य उद्देश्य ही प्रदेश की जीवनदायिनी नदी के संरक्षण के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करना है। उन्होंने कहा कि नर्मदा नदी के दोनों तट पर आगामी 2 जुलाई को अमरकंटक से अलीराजपुर तक लगभग 10 करोड़ पौधे एक साथ लगाने की तैयारी की जा रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज सीहोर जिले के आँवलीघाट पर यात्रा के कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, पंडित कमलकिशोर नागर, ब्रह्मकुमारी भावना दीदी, विज्ञानानंद महाराज, शिवानंद सरस्वती, साध्वी सुश्री प्रज्ञा भारती सहित संतगण एवं जन-समूह मौजूद था।
श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा यात्रा एक बड़ा जन आंदोलन बन गयी है। अभियान में जाति, रंग, भेद-भाव के बिना समाज के सभी वर्ग के लोग पूरे मनोयोग से शामिल हो रहे है। । नर्मदा नदी के किनारों पर कुंड का निर्माण करवाया जा रहा है, जिसमें प्रतिमाएँ और पूजन सामग्री विसर्जित की जा सकेगी। यह प्रयास नर्मदा नदी को प्रदूषण से मुक्त कराने के लिये उठाया गया महत्वपूर्ण कदम है। इसी तरह नदी के किनारों पर प्रदूषण से मुक्ति की रोकथाम के लिये मुक्ति धाम बनाये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि यात्रा को पूरे विश्व में सराहना मिल रही है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि नर्मदा नदी ने हमें सब कुछ दिया है। जहाँ एक ओर नर्मदा के जल से प्रदेश में विद्युत उत्पादन हो रहा है तो दूसरी ओर नर्मदा जल से लाखों हेक्टेयर भूमि सिंचित हो रही है। ग्रामीण और शहरी क्षेत्र के करोड़ों कण्ठों की प्यास बुझ रही है। बदले में हम लोगों ने नर्मदा को प्रदूषित कर दिया है। नर्मदा तट के आस-पास जंगलों के कटने से नदी के प्रवाह पर भी विपरीत प्रभाव पड़ा है। आज आवश्यकता नर्मदा नदी के प्रदूषण को रोकने तथा नदी किनारे के क्षेत्र में सघन वृक्षारोपण की है।
कार्यक्रम में नर्मदाष्टक पर आधारित नृत्य-नाटिका तथा अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये। संत कमलकिशोर नागर ने ग्रामीणों से नर्मदा नदी संरक्षण में सहयोग का आव्हान किया। इसके पूर्व यात्रा का ग्राम जाजना, मट्टागाँव, रेउगाँव और मर्दानपुर में भी आगमन हुआ। ग्रामीणों ने पुष्प-वर्षा कर यात्रा का स्वागत किया। गाँव की महिलाएँ भी यात्रा में सिर पर कलश रखकर शामिल हुई।


नर्मदा तट के ग्रामों को नशा एवं प्रदूषणमुक्त बनाया जायेगा
Our Correspondent :23 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नर्मदा नदी को स्वच्छ एवं अविरल बनाने के संकल्प के साथ नर्मदा सेवा यात्रा प्रारंभ की गई है। सभी नागरिक नदी संरक्षण के इस महा-अभियान में भागीदार बनें। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज सीहोर जिले के ग्राम नेहलाई में 'नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा के जन-संवाद को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने ग्रामीणों को नर्मदा तट पर फलदार वृक्ष लगाने, बेटी बचाओ अभियान को सफल बनाने, बच्चों को स्कूल में पढ़ाने, नदी में पूजा की पुरानी सामग्री न डालने, दुर्गा एवं गणेश उत्सव के बाद मूर्तियों के विसर्जन, नर्मदा तट पर अंतिम संस्कार, नर्मदा नदी में पॉलिथिन एवं प्रदूषण बढ़ाने वाली अन्य सामग्री विसर्जित न करने तथा प्लास्टिक के दीपक से दीपदान न करने का संकल्प दिलवाया।
मुख्यमंत्री ने प्रदेश सरकार की उपलब्धियों पर केन्द्रित कविता पाठ करने वाली दो छात्रा कुमारी सोनम यादव एवं कु. रूचि गौड़ को 5-5 हजार रूपये का पुरस्कार देने की घोषणा की। श्री चौहान ने नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान आयोजित भजन प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत किया। उन्होंने ग्रामीणों को वृक्षारोपण, गाँव में स्वच्छता, जल-संरक्षण एवं नशा मुक्ति संबंधी संकल्प दिलवाया।
श्री चौहान ने कहा कि हम सभी को नदियों एवं तालाबों के संरक्षण का संकल्प लेना चाहिए। मुख्यमंत्री ने बताया कि गत वर्ष डिण्डोरी जिले के भ्रमण के दौरान नर्मदा में अत्यन्त कम पानी देखकर उन्हें काफी कष्ट हुआ था तभी उन्होंने नर्मदा सेवा यात्रा आयोजित कर लोगों को नदी संरक्षण अभियान से जोड़ने का संकल्प लिया था, जो आज साकार हो रहा है। उन्होंने कहा कि नर्मदा नदी जीवनदायिनी है। जहाँ एक ओर माँ नर्मदा के जल से बिजली बन रही है, वहीं दूसरी ओर खेतों में हरियाली और किसानों के जीवन में खुशहाली आ रही है। उन्होंने कहा कि यात्रा किसी धर्म या पार्टी विशेष की नहीं है बल्कि अब व्यापक जन-आन्दोलन बन चुकी है।
मुख्यमंत्री ने ग्राम नेहलाई में नर्मदा नदी के तट पर आम का पौधा लगाकर ग्रामीणों से अपील की कि वे भी अपने-अपने घरों के आस-पास पौधे लगाये और उन्हें सुरक्षित रखें। उन्होंने बताया कि नर्मदा नदी के दोनों तट पर एक-एक किलोमीटर चौड़ाई में केवल वृक्षारोपण ही किया जायेगा ताकि नदी में पानी की अविरल धारा बनी रहें।
मुस्लिम धर्मावलम्बियों ने भी किया यात्रा का स्वागत
ग्राम नेहलाई में श्री अब्दुल खान के नेतृत्व में दर्जनों की संख्या में आस-पास के गाँव से आये मुस्लिम धर्मावलम्बियों ने यात्रा का पुष्प-वर्षा कर स्वागत किया।
नारियलों से मुख्यमंत्री का स्वागत
गाँव की बुजुर्ग श्रीमती जमुना बाई ने श्री शिवराज सिंह चौहान एवं उनकी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान का पाँच नारियल भेंट कर स्वागत किया। मुख्यमंत्री ने भाव-विभोर होकर बताया कि जब मैं पहली बार इस क्षेत्र से चुनाव लड़ रहा था तब श्रीमती जमुना बाई ने गाँव की महिलाओं से 2-2 रूपये एकत्रित कर आशीर्वाद के साथ मुझे भेंट किये थे और कहा था कि विधायक बनकर इस क्षेत्र की महिलाओं की समस्याओं को दूर करना।
गाँव को नशामुक्त करने का संकल्प
ग्राम नेहलाई में पास के गाँव जाजना से आई एक दर्जन से अधिक महिलाओं ने मुख्यमंत्री के समक्ष संकल्प लिया कि वे अपने गाँव के पुरूषों का नशा छुड़वाकर गाँव को नशा-मुक्त बनायेंगी। इन महिलाओं ने कहा कि चाहे उन्हें इसके लिये कितना ही संघर्ष क्यों न करना पड़े, वे संघर्ष करेंगी।
वन विकास निगम के अध्यक्ष श्री गुरू प्रसाद शर्मा, खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव कुमार चौबे, मध्यप्रदेश किसान आयोग के अध्यक्ष श्री ईश्वर लाल पाटीदार, जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डेय, साध्वी सुश्री प्रज्ञा भारती एवं इंदौर जिला पंचायत की अध्यक्ष सुश्री कविता पाटीदार सहित विभिन्न धर्मगुरु और जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


स्वर्गीय श्री गुरूचरण सिंह का जीवन प्रेरणादायी -मुख्यमंत्री श्री चौहान
Our Correspondent :23 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान सपत्निक बुधवार को विदिशा पहुँचकर पूर्व विधायक स्वर्गीय श्री गुरूचरण सिंह के श्रद्धांजलि कार्यक्रम में शामिल हुए। श्रद्धांजलि सभा में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि स्वर्गीय श्री गुरूचरण सिंह का जीवन प्रेरणादायी है। उन्होंने मेहनत कर कैसे शून्य से शिखर तक पहुँचा जा सकता है, को सार्थक किया।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि स्वर्गीय बाबूजी अग्रणी समाजसेवी थे। जिले के विकास के लिए वे सदैव तत्पर थे। छोटा सा व्यवसाय शुरू कर उन्होंने उसे प्रदेश स्तर पर स्थापित किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वर्गीय श्री सिंह के परिवार की हौंसला अफजाई करते हुए कहा कि उन्होंने जो व्यवसाय शुरू किया है उसे उनके दोनों पुत्र शिखर तक ले जाएंगे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि ‘‘नमामि देवि नर्मदे’’ नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान बाबूजी की स्मृति में माँ नर्मदा के तट पर 500 पौधे रोपित किए जाएंगे। स्वर्गीय श्री सिंह को लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह राजपूत, उद्यानिकी राज्य मंत्री श्री सूर्यप्रकाश मीणा के अलावा अन्य जन-प्रतिनिधियों, गणमान्य नागरिकों और समाजसेवियों ने भी श्रद्धांजलि अर्पित की।


मुख्यमंत्री श्री चौहान से आज अमेरिका से लौटी श्रीमती रेखा पंदराम ने की भेंट
एक आंचलिक युवा पत्रकार को मिलेगा पुरस्कार

Our Correspondent :22 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली श्रीमती रेखा पंदराम ने अमेरिका यात्रा से लौटकर आज विधानसभा में मुलाकात की। इस अवसर पर महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस भी मौजूद थी।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्रीमती पंदराम को उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएँ और बधाई दी। उन्होंने कहा कि वे महिला सशक्तीकरण की राजदूत के रूप में महिलाओं और बेटियों के सशक्तीकरण के लिये किये जा रहे प्रयासों में सहयोग करें।
उल्लेखनीय है कि तेजस्विनी कार्यक्रम डिंडोरी से जुड़ी श्रीमती रेखा पंदराम ने संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा महिलाओं की स्थिति पर गठित आयोग के 61वें सत्र में भारत का प्रतिनिधित्व किया है। उन्होंने महिलाओं की आर्थिक स्थिति, खाद्य सुरक्षा और पोषण के क्षेत्र में स्थानीय ग्रामीण महिलाओं की भूमिका पर सत्र को संबोधित भी किया। न्यूयार्क जाने से पहले भी श्रीमती पंदराम ने मुख्यमंत्री से भेंट की थी।


नर्मदा में जल की अविरल धारा के लिये नर्मदा तट पर वृक्ष लगायें
Our Correspondent :22 March 2017
नर्मदा नदी में निर्मल जल की धारा अविरल बनी रहे इसके लिये जरूरी है कि नर्मदा के दोनों तटों पर वृक्षारोपण किया जाये तथा उन पौधों का संरक्षण कर उन्हें वृक्ष के रूप में विकसित किया जाये । नर्मदा नदी को प्राकृतिक हरियाली की चुनरी ओढ़ाने का सभी संकल्प लें। यह बात वन विकास निगम के अध्यक्ष श्री गुरू प्रसाद शर्मा ने सीहोर जिले के ग्राम छिदगांव काछी में नर्मदा सेवा यात्रा में कही। कार्यक्रम में उपस्थित ग्रामीणों को नर्मदा संरक्षण, वृक्षारोपण और नशामुक्ति से संबंधित संकल्प भी दिलवाया गया ।
खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा विश्व का सबसे बड़ा नदी संरक्षण अभियान है। इसके माध्यम से प्रदेश के करोड़ों लोगों को पर्यावरण संरक्षण, जल-संरक्षण, स्वच्छता, नशामुक्ति के लिये जागरूक किया जा रहा है। जन अभियान परिषद के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पांडे ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा 11 दिसम्बर से आगामी 11 मई तक नर्मदा सेवा के जरिये नागरिकों को स्वच्छता और पर्यावरण संरक्षण के लिये जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने मुख्यमंत्री को पर्यावरण संरक्षण और नदी संरक्षण के क्षेत्र में “युग पुरूष” बताया।
साध्वी सुश्री प्रज्ञा भारती ने कहा कि सभी धार्मिक ग्रंथ हमें नदी संरक्षण, जल संरक्षण और पर्यावरण संरक्षण का संदेश देते हैं। उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा कोई राजनैतिक यात्रा नहीं बल्कि पर्यावरण के प्रति नागरिकों में चेतना लाने के उद्धेश्य से शुरू की गई जन-जागरण यात्रा है। उन्होंने कहा कि विश्व के अनेक देशों में नर्मदा सेवा यात्रा की सराहना हो रही है। उन्होंने कहा कि नर्मदा मध्यप्रदेश की “जीवन-रेखा” है। नर्मदा के जल से करोड़ों कंठों की प्यास बुझ रही है। साथ ही मध्यप्रदेश के कृषि उत्पादन और विद्युत उत्पादन में भी माँ नर्मदा का योगदान किसी से छिपा नहीं है ।
इससे पूर्व नर्मदा सेवा यात्रा नसरूल्लागंज विकासखंड के ग्राम मंडी से आज सुबह रवाना हुई । यात्रा का ग्राम चमाटी, नीलकंठ और डिमावर में ग्रामीणों ने स्वागत किया। इन गाँवों में यात्रा आगमन पर महिलाओं द्वारा कलश यात्राएँ भी की गई ।


कपिलधारा कूप पूर्ण करने में प्रदेश देश में अव्वल
Our Correspondent :22 March 2017
कपिलधारा कूप पूर्ण करने में प्रदेश देश में अव्वल पर है। मनरेगा से 3 लाख 55 हजार से अधिक हितग्राहियों को कपिलधारा कूप का लाभ दिया गया है, जिससे सिंचाई रकबे में लगभग 4 लाख 50 हजार हेक्टेयर की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। वर्ष 2016-17 में प्रदेश में 41 हजार 18 कपिल कूप स्वीकृत किये गये जिनमें से 26 हजार 473 कूप पूरे किये जा चुके हैं। यह जानकारी आज पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव की अध्यक्षता में संपन्न मनरेगा कार्यकारिणी समिति की बैठक में दी गई।
मंत्री श्री भार्गव ने कहा कि मनरेगा में प्रदेश के हर जरूरतमंद व्यक्ति को काम के साथ-साथ आजीविका के स्थायी साधन तैयार किये जाये। प्रयास यह हो कि रोजगार के अलावा गाँव की समृद्धि में भी मनरेगा कारगर साबित हो।
मंत्री श्री भार्गव ने कहा कि मनरेगा के तहत हर गाँव में मोक्ष धाम, खेल मैदान, गाँव की सुदूर बसाहट को जोड़ने वाली सड़कें तथा जरूरतमंद को सिंचाई सुविधा का लाभ देने के लिए कपिलधारा कूप का निर्माण करवाया जाये। श्री भार्गव ने कहा कि लक्षित मानव दिवस को प्राप्त करने के विशेष प्रयास किये जाये।
पंचायत एवं ग्रामीण विकास राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग ने मनरेगा की आजीविका के स्थायी साधन तैयार करने वाली योजनाओं को प्रभावी तरीके से क्रियान्वित करवाने पर जोर दिया।
अपर मुख्य सचिव ग्रामीण विकास श्री आर.एस. जुलानिया ने प्रदेश में मनरेगा के क्रियान्वयन की रूपरेखा से अवगत करवाया। आयुक्त मनरेगा श्रीमती जी.व्ही. रश्मि ने बताया कि प्रदेश में मनरेगा योजना के प्रारंभ से अब तक 29 लाख से अधिक कार्य स्वीकृत कर तकरीबन 82 फीसदी अर्थात 24 लाख से अधिक कार्य पूरे किये जा चुके हैं। प्रदेश में मनरेगा कार्यों की जियोटेगिंग की कार्यवाही की जा रही है। भारत सरकार द्वारा दिये गये 2 लाख 25 हजार लक्ष्य के विरूद्ध 3 लाख 89 हजार कार्यों की जियोटेगिंग की जा चुकी है, जो कुल उपलब्धि का 173 प्रतिशत है। प्रदेश में मनरेगा के 90 फीसदी मजदूरों को आधार आधारित भुगतान करने की कार्यवाही की जा रही है।


प्रदेश के 4000 स्वास्थ्य कर्मचारियों को नही मिला सिंहस्थ डयूटी का मानदेय
Our Correspondent :21 March 2017
सिंहस्थ में दिन रात लोगों की सेवा करने वाले प्रदेष के लगभग 4000 स्वास्थ्य कर्मचारी जिनमें डाक्टर, स्टाफ नर्स टेकनीषियन एवं पैरामेडिकल शामील है को मुख्य मंत्री के कडे निर्देषों के बाद भी रूपये 5000 मानदेय प्राप्त नही हुआ है ।
मुख्य मंत्री कर्मचारियों को मानदेय न मिलने की षिकायत पर अपनी नाराजगी पहले ही जता चुके है और अधिकारियों को कडे निर्देष दिये उसके बाद भी कर्मचारियों को मानदेय का भुगतान नही होना लालफीता षाही की इंतेहा है । इन कर्मचारियों को मानदेय का भुगतान नगर निगम उज्जैन के माध्यम से किया जाना है और कर्मचारियों की सूची भी उन्हें उपलब्ध करा दी गई है ।
मध्यप्रदेष तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ के सुरेष गर्ग, विजय रघुवंषी, लक्ष्मीनारायण शर्मा, विजय मिश्रा, रविकांत बरोलिया आदि ने मांग की है कि सिंहस्थ में सेवा देने वाले स्वास्थ्य कर्मचारियों को अविलंब रूपये 5000 मानदेय की राषि का भुगतान किया जायें ।


पर्याप्त सिंचाई और बिजली की सुविधा से है कृषि विकास दर 20 प्रतिशत
Our Correspondent :21 March 2017
किसान-कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री गौरी शंकर बिसेन ने कहा है कि मध्यप्रदेश की सतत कृषि विकास दर 20 प्रतिशत से अधिक होने का राज है मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की कृषि उन्मुखी नीतियाँ। श्री बिसेन ने कहा कि सिंचाई बिजली और अन्य कृषि संसाधन किसान को आसानी से उपलब्ध हुए इस से प्रदेश के कृषि उत्पादन में बम्पर वृद्धि हुई। श्री बिसेन हरियाणा के फरीदाबाद में सूरजकुंड में एग्रीकल्चर लीडरशिप समिट के समापन समारोह में प्रदेश में कृषि विकास दर सर्वाधिक होने के मूल मंत्र के बारे में बता रहे थे। समिट में श्री बिसेन को इस विषय पर संबोधित करने के लिये आमंत्रित किया गया था।
कृषि मंत्री श्री बिसेन ने कहा कि प्रदेश में हर किसान को स्वाईल हेल्थ कार्ड बनाकर दिया जा रहा है। सभी विकासखंड में स्थायी मिट्टी परीक्षण प्रयोगशाला स्थापित हो रही हैं जिनमें सूक्ष्म पोषक तत्वों के परीक्षण की सुविधा उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पिछले 10 वर्ष में सिंचाई रकबे में 36 लाख हेक्टयर क्षेत्र की वृद्धि हुई है। किसानों को सतत बिजली मिल रही है। कृषि यंत्रीकरण को बढ़ावा देने के साथ ही बीज, उर्वरक तथा अन्य आदान सामग्री किसानों को दी जा रही है। श्री बिसेन ने कहा कि यही कारण है कि प्रदेश की कृषि विकास दर निरंतर 20 प्रतिशत से अधिक बनी हुई है।
कृषि मंत्री ने बताया कि मध्यप्रदेश पहला राज्य है जहाँ सर्वाधिक किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से जोड़ा गया है। वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने के लिये सबसे पहले रोडमेप बनाया गया है। आपदा के समय सरकार हमेशा किसानों के साथ खड़ी रही है। पिछले 10 वर्ष में 10 हजार करोड़ से अधिक की सहायता किसानों को दी गई है। उन्होंने कहा कि आज आवश्यकता इस बात की है कि खाद्यान्न उत्पादन में क्वांटिटी के साथ क्वालिटी पर विशेष ध्यान दिया जाये।
इस मौक पर कृषि मंत्री श्री बिसेन का सम्मान भी किया गया।



जल-वन-नर्मदा-भोपाल जन-जागरूकता अभियान
Our Correspondent :21 March 2017
सघन वनों से निकली नर्मदा की धारा को हमेशा अविरल रखने के लिये 2 जुलाई को प्रदेश में 5 करोड़ पौधों का रोपण होगा। वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार ने यह बात आज यहाँ जल-वन-नर्मदा-भोपाल जन-जागरूकता अभियान में हुई चित्रकला, निबंध और फोटोग्राफी प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत करते हुए कही। अपर मुख्य सचिव वन श्री दीपक खांडेकर, प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री अनिमेष शुक्ला, सदस्य सचिव राज्य जैव विविधता बोर्ड श्री आर. श्रीनिवास मूर्ति और प्रसिद्ध साहित्यकार श्री अमृतलाल वेगड़ भी मौजूद थे।
डॉ. शेजवार ने कहा कि पुराणों में वर्णित है कि नर्मदा सूख चुकी नदियों का वैभव लौटायेंगी। आज सैकड़ों हजारों वर्ष बाद उज्जैन में क्षिप्रा नदी और कालीसिंध-गंभीर नदियों को नर्मदा जल से पुनर्जीवित करने से यह बात चरितार्थ होने लगी है। उन्होंने जैव विविधता बोर्ड की प्रशंसा करते हुए कहा कि पर्यावरण सुरक्षा, पौध-रोपण, प्रदूषण नियंत्रण और अपशिष्ट प्रबंधन अन्तत: जैव-विविधता से जुड़ते हैं, ऐसे में जन-जागरूकता का यह अभियान सराहनीय है।
डॉ. शेजवार ने कहा कि नर्मदा को मनुष्य की नहीं बल्कि मनुष्य को नर्मदा की आवश्यकता है। नर्मदा यात्रा से लोगों में जागरूकता आई है सैकड़ों टन फूल माला के रूप में मिलने वाला कचरा कम हुआ है। लोगों ने धार्मिक महत्व के साथ इसके पर्यावरणीय महत्व को समझा है। साधु-संत भी सम्मान और उत्साह के साथ यात्रा में भाग ले रहे हैं।
डॉ. शेजवार ने नर्मदा नदी की पैदल परिक्रमा करने और नर्मदा पर अनुपम साहित्य सृजन करने वाले प्रख्यात साहित्यकार श्री अमृतलाल वेगड़ का शॉल-श्रीफल भेंटकर सम्मान किया। डॉ. शेजवार ने चित्रकला प्रतियोगिता में मेहल अजमेरा, रिया जैन, महक जैन, पूजा कुशवाहा, महेश सोनी, कुमारी नीतू दोशी और राजाराम रावते को पुरस्कृत किया। निबंध प्रतियोगिता में अंतरिक्ष सेठिया, आरूषि रंजन, राजदीप मिर्धा, राजू प्रसाद विश्वकर्मा, आरती सिंह और निधि बर्मन को पुरस्कृत किया गया।


महान वीरांगना थी रानी अवंति बाई– मुख्यमंत्री श्री चौहान
Our Correspondent :20 March 2017
वीरांगना अवंति बाई बलिदान दिवस पर आज माता मंदिर चौराहा स्थित प्रतिमा पर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय जल-संसाधन और नदी विकास मंत्री सुश्री उमा भारती ने श्रद्धा-सुमन अर्पित कर, नमन किया।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि रानी अवंती बाई महान वीरांगना थी। उन्होंने देश की परतंत्रता की बेड़ियाँ काटने के लिये अपने रक्त की अंतिम बूँद न्यौछावर कर दी थी। स्वतंत्रता के लिये सर्वस्व अर्पित कर दिया। वीरों का सम्मान देश समाज का कर्त्तव्य है। वीर पूजे नहीं गये तो, वीरता बाँझ हो जायेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने वीरांगना की स्मृतियों को चिरस्थायी बनाने और उनके प्रति सम्मान प्रगट करने के लिये अनेक कार्य करवाये हैं। भविष्य में भी जो कार्य आवश्यक होंगे, करवायें जायेंगे। सरकार जनता को भगवान मानकर उसकी सेवा के लिये सदैव तत्पर है। जन-आंकाक्षाओं को पूरा करना सरकार का कर्त्तव्य है।
केंद्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती ने कहा कि वीरांगना रानी अवंति बाई की प्रतिमा देश की राजधानी में स्थापित करवाने का प्रयास कर रही है। उन्होंने बताया कि रानी अवंतिबाई ने अंग्रेजों को युद्ध में परास्त कर दिया था। एक वर्ष तक स्वतंत्र रूप से शासन भी किया था। विश्वासघात के कारण ही अंग्रेज उनके विरूद्ध सफल हो सके।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने केंद्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती का सम्मान किया। माता मंदिर चौराहे से दशहरा मैदान के लिये रैली को रवाना किया। इस अवसर पर सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग, विधायक श्री प्रताप सिंह लोधी, खनिज विकास निगम के पूर्व अध्यक्ष श्री कोकसिंह नरवरिया एवं पूर्व विधायक श्री भैय्या साहब लोधी आदि जन-प्रतिनिधि एवं बड़ी संख्या में जनसमूह उपस्थित था।


प्रदेश में नवीन मदरसों का पंजीयन कार्य 31 मार्च तक
Our Correspondent :20 March 2017
मध्यप्रदेश में मदरसा बोर्ड, भोपाल ने शिक्षा सत्र 2017-18 के लिये नवीन मदरसों के पंजीयन एवं समिति पंजीयन के ऑनलाइन आवेदन करने की सुविधा दी है। यह सुविधा एम.पी. ऑनलाइन के पोर्टल सेवा केन्द्रों पर 17 मार्च से 31 मार्च 2017 तक उपलब्ध रहेंगी।
आवेदन करने के लिये फॉर्मेट और विस्तृत जानकारी एम.पी. ऑनलाइन पोर्टल और मदरसा बोर्ड की वेबसाइट www.mpmb.org.in पर उपलब्ध करवायी गयी है। इस संबंध में अन्य जानकारी कार्यालय के फोन नम्बर 0755-2735931 और 2737362 पर भी ली जा सकती है। प्रदेश में कक्षा 5 और कक्षा 8 तक के मदरसों का संचालन स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा किया जा रहा है। इन मरदसों को राज्य सरकार की ओर से अनुदान राशि भी उपलबध करवायी जा रही है।


डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दी उत्तरप्रदेश के नये मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ को बधाई
Our Correspondent :20 March 2017
जनसंपर्क, जल-संसाधन तथा संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के साथ लखनऊ में उत्तरप्रदेश के नये मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लिया।
जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री को बधाई देते हुए उन्हें इस दायित्व के निर्वहन में सफल होने की शुभकामनाएँ दीं। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने शपथ ग्रहण समारोह में आए अनेक राष्ट्रीय नेताओं से भी भेंट की।
अशोक मनवानी


विश्व जल दिवस पर परिचर्चा
Our Correspondent :17 March 2017
राज्य जैव-विविधता बोर्ड द्वारा विश्व जल दिवस पर 22 मार्च को प्रशासन अकादमी में 'जल-वन-नर्मदा-भोपाल'' विषय पर समग्र शासन की अवधारणा एवं क्रियान्वयन रणनीति पर परिचर्चा की जा रही है। प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्य-प्राणी) श्री जितेन्द्र अग्रवाल की अध्यक्षता में होने वाले सत्र में पेनलिस्ट प्रबंध संचालक राज्य वन विकास निगम श्री रवि श्रीवास्तव और सदस्य सचिव जैव-विविधता बोर्ड श्री आर. श्रीनिवास मूर्ति होंगे। मुख्य वक्ता अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक डॉ. पंकज श्रीवास्तव होंगे।
अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री वाय. सत्यम की अध्यक्षता में होने वाले अंतिम सत्र में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के प्रमुख अभियंता श्री जी.एस. डामोर, जल-संसाधन विभाग के प्रमुख अभियंता श्री राजीव कुमार, कलेक्टर भोपाल श्री निशांत वरवड़े और नगर निगम आयुक्त श्रीमती छवि भारद्वाज भाग लेंगी। सत्र के मुख्य वक्ता अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री चितरंजन त्यागी होंगे।
मुख्य सचिव करेंगे 'जल-वन-नर्मदा-भोपाल'' अभियान का समापन
राज्य जैव-विविधता बोर्ड द्वारा 19 मार्च को शुरू किये गये अभियान का समापन मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह करेंगे। अपर मुख्य सचिव (वन) श्री दीपक खाण्डेकर की अध्यक्षता में प्रशासन अकादमी में दोपहर 2.30 बजे से शुरू होने वाले कार्यक्रम में 'जल-वन-नर्मदा-भोपाल'' विषय पर समग्र शासन की अवधारणा, क्रियान्वयन रणनीति एवं कार्यशाला के निष्कर्षों का प्रस्तुतिकरण होगा। कार्यक्रम की सह अध्यक्षता प्रधान मुख्य वन संरक्षक डॉ. अनिमेष शुक्ला करेंगे।


ग्रामीण अंचल में खेलों का आयोजन स्थानीय प्रतिभाओं के आगे आने में सहायक
Our Correspondent :17 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की उपस्थिति में आज रीवा जिले के जवा जनपद अन्तर्गत ग्राम अतरैला में मुख्यमंत्री स्वच्छता सम्मान समारोह एवं विधायक कप कबड्डी प्रतियोगिता 2017 का आयोजन हुआ। इस अवसर पर रीवा, सिरमौर, गंगेव और नईगढ़ी जनपद पंचायतों को खुले में शौच मुक्त घोषित किया गया।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि ग्रामीण अंचल में होने वाले खेलों के आयोजन स्थानीय प्रतिभाओं को आगे आने में सहायक होते हैं। उन्होंने कहा कि शासन स्तर से ग्रामीण खेल प्रतिभाओं को निखारने के लिये बेहतर कोच और संसाधन मुहैया करवाने के सभी प्रयास किये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि कबड्डी जैसे स्थानीय खेल के आयोजन के लिये विधायक बधाई के पात्र हैं। उन्होंने सिरमौर में कबड्डी खेल के लिये इनडोर स्टेडियम के निर्माण की घोषणा भी की।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गाँव और शहर को साफ-सुथरा और स्वच्छ बनाने का कर्त्तव्य प्रत्येक व्यक्ति का है। आज रीवा जिले की जो चार जनपदें खुले में शौच मुक्त हो रही हैं वहाँ के जन-प्रतिनिधि, ग्रामीणजन और प्रशासनिक अधिकारी बधाई के पात्र हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब जरूरत इस बात की है कि यहाँ सतत निगरानी हो और लोग शौचालयों का उपयोग करें।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में प्रत्येक व्यक्ति को आवास देने के उद्देश्य से ग्रामीण आवास कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है। कार्यक्रम में रीवा जिले में इस वर्ष 38 हजार आवास बनाये जायेंगे। उन्होंने कहा कि छात्रों को पढ़ाई के लिये दूर न जाना पड़े, इस उद्देश्य से शिक्षा के क्षेत्र में विभिन्न विद्यालयों का उन्नयन और महाविद्यालयों की स्थापना की जा रही है। अब कक्षा 12वीं में 75 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थी को उच्च शिक्षा हेतु प्रतिष्ठित संस्थानों में प्रवेश पर लगने वाली फीस शासन द्वारा वहन की जायेगी। किसानों के लिये शून्य प्रतिशत ब्याज पर ऋण सुविधा उपलब्ध करायी गयी है। नहरों का जाल बिछाकर असिंचित भूमि को सिंचित करने का कार्य प्राथमिकता से किया जा रहा है। उन्होंने युवाओं से अपील की कि मुख्यमंत्री युवा उद्यमी और स्व-रोजगार योजनाओं का लाभ लेकर अपना स्वयं का उद्यम स्थापित करने के लिये आगे आकर स्वावलम्बी बनें।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संकल्प दोहराते हुए कहा कि प्रदेश में कानून बनाकर मासूमों पर अत्याचार करने वालों के खिलाफ कड़ी से कड़ी सजा का प्रावधान किया जायेगा। उन्होंने आजीविका मिशन को सशक्त बनाने की बात भी कही। मुख्यमंत्री ने जवा क्षेत्र को विकसित क्षेत्र बनाने के लिये हर सम्भव कार्य किये जाने की बात कहते हुए लोगों से नशा न करने और वृक्षारोपण कर प्रदेश को हरा-भरा एवं समृद्धशाली बनाने में सहयोग की अपेक्षा की।
श्री चौहान ने स्वच्छ भारत मिशन अभियान में खुले में शौच मुक्त जनपदों के अध्यक्षों और सरपंचों को पुष्प-वर्षा कर व प्रशस्ति-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कबड्डी प्रतियोगिता की विजेता और उपविजेता टीमों के खिलाड़ियों को भी पुरस्कृत किया।
मुख्यमंत्री ने अपने अतरैला भ्रमण के दौरान 8949.79 लाख रूपये लागत के 3301 निर्माण कार्यों का शिलान्यास किया। कार्यक्रम में सांसद श्री जनार्दन मिश्र, विधायक त्यौंथर सर्वश्री रमाकांत तिवारी और दिव्यराज सिंह, उपाध्यक्ष जिला पंचायत श्रीमती विभा पटेल सहित जन प्रतिनिधि और स्थानीय ग्रामीण बड़ी संख्या में उपस्थित थे।


मुख्यमंत्री निवास पर हुआ होली मिलन
Our Correspondent :17 March 2017
सर्वधर्म समभाव की परंपरा निभाते हुए मुख्यमंत्री निवास पर आज होली मिलन का आयोजन हुआ। सभी धर्मों और वर्गों के लोग होली मिलन में शामिल हुए।
इस अवसर पर ब्रज की होली, कन्हैया की रासलीला और शंकर भगवान की मसान होली का मंचन किया गया। लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग, विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह, भाजपा के पदाधिकारी, प्रशासनिक अधिकारी, गणमान्य नागरिक, पत्रकार और समाज के सभी वर्गों के सदस्य उपस्थित थे।
पत्रकार श्री के.के. सक्सेना ने चार दशक से प्रकाशित हो रहे साप्ताहिक 'विचित्र विनोद'' के होली-रंगपंचमी विशेषांक को मुख्यमंत्री को भेंट किया।


अच्छे प्रशासन के लिये तकनीक का उपयोग जरूरी-मुख्यमंत्री श्री चौहान
Our Correspondent :16 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आज के समय में अच्छा प्रशासन देने के लिये तकनीक का उपयोग करना जरूरी है। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ 'मोबाइल एप शिवराजसिंह चौहान'' के लांचिंग कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह सुशासन की दृष्टि से एक महत्वपूर्ण कदम है। यह जनता के जुड़ने का सशक्त डिजिटल माध्यम है। इससे कम समय में जनता जुड़ेगी तथा सुझाव और समस्याओं की जानकारी दे सकेगी। इस एप से कार्यक्रमों तथा शासकीय योजनाओं की जानकारी भी मिलेगी। यह परस्पर संवाद का अच्छा माध्यम बनेगा। इससे जनता की समस्या का समाधान त्वरित समय में होगा।
प्रमुख सचिव जनसंपर्क श्री एस.के.मिश्रा ने एप के संबंध में जानकारी दी। एण्ड्राईड फ़ोन के गूगल प्ले स्टोर पर शिवराज सिंह चौहान एप्प सर्च कर सकते हैं। इसे सिलेक्ट कर इंस्टॉल बटन दबाये। अगर एप कोई परमिशन माँगता है तो सहमति दें । एप इंस्टॉल होने के बाद अपनी भाषा अंग्रेज़ी या हिंदी का चयन कर सकते हैं। यह एप में मेन्यू सेक्शन में जा कर अलग-अलग जानकारियाँ प्राप्त कर सकते हैं। मुख्यमंत्री के समाचार, कार्यक्रम और उनके भाषण के वीडियो देख सकते हैं एवं ऑडियो सुन सकते हैं। साथ ही लेख पढ़ सकते हैं और अपना फ़ीडबेक भी दे सकते हैं। सोशल मीडिया से भी सीधा एप के माध्यम से जुड़ सकते हैं। बहुत सारे इंटरैक्टिव फ़ीचर्स इस एप में आने वाले दिनों में डाले जाएँगे। इसका आई.ओ.एस. वर्ज़न भी बहुत जल्द उपलब्ध करवाया जा रहा है।
इस मौके पर जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग, महापौर श्री आलोक शर्मा, सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान और श्री सुहास भगत उपस्थित थे।


अगस्त 2017 से शुरू होंगी 4 नई आई.टी.आई.
Our Correspondent :16 March 2017
प्रदेश में अगस्त 2017 से 4 नई आई.टी.आई. शुरू होंगी। रायसेन जिले के सिलवानी एवं बेगमगंज, देवास जिले के हाटपिपल्या और अनूपपुर जिले के बदरा में नये आई.टी.आई. शुरू होंगे।
गौरतलब है कि वर्ष 2016 में 5 नये आई.टी.आई. छिंदवाड़ा जिले के पीपलानारायणवार, उमरिया जिले के मानपुर, पाली, छतरपुर, जिले के चंदला और बैतूल जिले के घोड़ाडोंगरी में प्रारंभ किये गये हैं। इसी तरह आई.टी.आई. उमरिया, मैहर और खाचरोद में तीन अतिरिक्त ट्रेड प्रारंभ करने की भी स्वीकृति दी गयी है।


श्री वर्मा को पुलिस महानिरीक्षक प्रशासन का अतिरिक्त प्रभार
Our Correspondent :16 March 2017
राज्य शासन ने भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी श्री डी. श्रीनिवास वर्मा पुलिस महानिरीक्षक,
अअवि पुलिस मुख्यालय को वर्तमान कार्य के साथ पुलिस महानिरीक्षक प्रशासन पुलिस मुख्यालय के रिक्त पद का अतिरिक्त प्रभार सौंपा है।
यह आदेश आज जारी किया गया।


मुख्यमंत्री पुलिस आवास योजना में 25 हजार आवास का होगा निर्माण
Our Correspondent :15 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की अध्यक्षता में आज संपन्न मंत्रि-परिषद की बैठक में मुख्यमंत्री पुलिस आवास योजना के अंतर्गत 25 हजार आवासगृह निर्माण का निर्णय लिया गया। आगामी पाँच वर्षों में मध्यप्रदेश पुलिस हाउसिंग कार्पोरेशन लिमिटेड द्वारा पुलिस कर्मियों के लिए 5 हजार आवास प्रतिवर्ष बनाये जायेंगे।
नायब तहसीलदार के 112 पद पर सीधी भर्ती
मंत्रि-परिषद ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी भोपाल द्वारा प्रतिनियुक्ति पर चाहे गये नायब तहसीलदारों के 281 पदों की पूर्ति के लिए मध्यप्रदेश जूनियर प्रशासकीय सेवा 'भर्ती तथा सेवा शर्तें' नियम 2011 को एक बार शिथिल कर शेष 112 पद की पूर्ति भी सीधी भर्ती के माध्यम से लोक सेवा आयोग से करवाये जाने का निर्णय लिया।
आगर में शासकीय पॉलीटेक्निक महाविद्यालय
मंत्रि-परिषद ने शासकीय पॉलीटेक्निक महाविद्यालय आगर की स्थापना एवं संस्था संचालन के लिए 78 पद के निर्माण की मंजूरी दी।
समरधा में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र
मंत्रि-परिषद ने जिला भोपाल विकासखंड फंदा के ग्राम समरधा 11 मील चौराहा होशंगाबाद रोड में दस बिस्तरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की स्थापना को मंजूरी दी। केंद्र की स्थापना के लिए मेडिकल, पैरामेडिकल एवं अन्य संवर्ग के दस नए पदों को सृजित करने की स्वीकृति दी गई। केंद्र स्थापना के लिए वर्तमान में लोक निर्माण विभाग द्वारा प्रचलित मापदंडों में भवन निर्माण तथा संस्था में स्वीकृत अमले के लिए निवास निर्माण करवाये जाने का निर्णय भी लिया गया।


सड़क निर्माण कार्यों में तेजी लाये
Our Correspondent :15 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज मंत्रालय में मध्यप्रदेश सड़क विकास निगम के संचालक मंडल की 33वीं बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में मुख्यमंत्री ने सड़क निर्माण कार्यों में तेजी लाने और निर्माण की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए।
बैठक में टोल संग्रहण को पूरी तरह इलेक्ट्रॉनिक बनाने, देवास बायपास को चौड़ा करने, घारा-वारासिवनी-तुमसर से महाराष्ट्र सीमा तक सड़क निर्माण को उन्नत बनाने, निगम की परियोजनाओं के लिए सुपरविजन चार्ज तय करने, निगम स्टाफ बढ़ाने, रोड सेफ्टी फंड नियम लागू करने जैसे मुद्दों पर चर्चा हुई।
बैठक में लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह, अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए.पी. श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव वन श्री दीपक खांडेकर, प्रमुख सचिव नगरीय विकास श्री मलय श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव लोक निर्माण श्री प्रमोद अग्रवाल, स्वतंत्र निदेशक श्री प्रसन्न कुमार दाश, सचिव खनिज श्री मनोहर दुबे, प्रबंध संचालक सड़क विकास निगम श्री मनीष रस्तोगी उपस्थित थे।


जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने किया पोस्टर विमोचन
Our Correspondent :15 March 2017
जनसंपर्क, जल-संसाधन और संसदीय कार्य डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज निवास पर आगामी चेटीचंड के अवसर पर सेवा और सिंधु सेना संस्था की ओर से प्रकाशित भगवान झूलेलाल धर्मयात्रा पोस्टर का विमोचन किया। इस मौके पर संस्था के प्रमुख श्री दुर्गेश केसवानी, श्री सौरभ गंगारामानी, श्री राकेश शेवानी, श्री मोहन बिजलानी, श्री मनोज रायचंदानी, श्री राकेश कुकरेजा, श्री जयपाल सचदेव और श्री तुलसी नेनवानी आदि उपस्थित थे।
चेटीचंड कार्यक्रम की श्रृंखला में यह धर्मयात्रा युवाओं की वाहन रैली के रूप में 26 मार्च को नगर के प्रमुख मार्गों से गुजरेगी।


मुख्यमंत्री निवास में उड़े रंग गुलाल, राधा-कृष्ण रासलीला की हुई प्रस्तुति
Our Correspondent :14 March 2017
रंगों का त्यौहार होली मध्यप्रदेश में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री निवास में रंगों से सराबोर होकर सबके साथ होली खेली।
श्री चौहान को होली की बधाई देने मुख्यमंत्री निवास में विभिन्न धर्मों के धर्मगुरू, जन-प्रतिनिधि, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी सहित गणमान्य नागरिक पहुँचे। मुख्यमंत्री ने होली की शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि होली रंगों और उल्लास का त्यौहार है। रंगों का यह त्यौहार प्रदेश और देश में समृद्धि और उन्नति का रंग लेकर आये। लोगों में स्नेह, सदभाव और भाईचारा बना रहे। होली के रंग बिखरते रहे।
विशेष आमंत्रित वृंदावन की हरि आध्यात्म संस्था ने राधा-कृष्ण रासलीला की मनोहारी प्रस्तुति भी दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं उनकी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह ने नृत्य दल की प्रमुख सुश्री भावना सारस्वत एवं अन्य सदस्यों को सम्मानित किया।


पूर्व में प्रचलित पर्यटन नीति में अनुदान या छूट प्राप्त करने की अंतिम तिथि 30 मार्च
Our Correspondent :14 March 2017
राज्य शासन द्वारा लागू की गई पर्यटन नीति-2016 के अनुसार 1 अक्टूबर, 2016 या इसके बाद शुरू होने वाली या उत्पादन प्रारंभ करने वाली पर्यटन परियोजनाओं को नई पर्यटन नीति में अनुदान आदि की सुविधाएँ प्राप्त हो सकेगी।
एक अक्टूबर, 2016 के पहले शुरू होने वाली या उत्पादन प्रारंभ करने वाली पात्र पर्यटन परियोजनाओं को पूर्व में प्रचलित पर्यटन नीति-2010 यथा-संशोधित 2014 के प्रावधान के अनुसार अनुदान अथवा छूट की पात्रता होगी। लेकिन ऐसी इकाइयों के लिये यह आवश्यक होगा कि वे आगामी 30 मार्च, 2017 तक पूर्व नीति के अनुसार अपने अनुदान या छूट संबंधी आवेदन प्रबंध संचालक राज्य पर्यटन विकास निगम को प्रस्तुत कर उसकी पावती प्राप्त कर लें। आगामी 30 मार्च, 2017 के बाद पूर्व नीति के अंतर्गत आवेदन स्वीकार नहीं किये जायेंगे।


राज्य सेवा मुख्य परीक्षा-2016 का परीक्षा परिणाम घोषित
Our Correspondent :14 March 2017
राज्य सेवा मुख्य परीक्षा-2016 परीक्षा एक से 7 अक्टूबर-2016 का परीक्षा परिणाम 10 मार्च-2017 को मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग ने घोषित कर दिया है। परीक्षा में श्रेणीवार संख्या के पदों के तीन गुना, जिसमें समान अंक प्राप्त अर्ह आवेदक भी शामिल हैं। साक्षात्कार के लिये प्रावधिक अर्ह घोषित किया गया है।
साक्षात्कार के लिये अनुप्रमाणन एवं व्यक्तिगत विवरण फार्म आयोग की वेबसाइट www.mppscdemo.in, www.mppsc.nic.in तथा www.mppsc.com पर उपलब्ध हैं। आयोग ने प्रावधिक अर्ह अभ्यर्थियों से कहा है कि वे अनुप्रमाणन एवं व्यक्तिगत विवरण फार्म डाउनलोड कर विधिवत भरकर दोनों फार्म के साथ जन्म-तिथि, शैक्षणिक योग्यता, जाति प्रमाण-पत्र, निवास प्रमाण-पत्र, विकलांग प्रत्याशी विकलांगता प्रमाण-पत्र और भूतपूर्व सैनिक आवेदक भूतपूर्व सैनिक का प्रमाण-पत्र, शासकीय सेवक सेवा का प्रमाण-पत्र एवं अनापत्ति प्रमाण-पत्र और अन्य सभी प्रमाण-पत्र, जिसकी आवेदन-पत्र में जानकारी दी गयी है, के समर्थन में इनकी सत्यापित प्रतिलिपि संलग्न कर 13 अप्रैल तक आयोग कार्यालय में भेजना सुनिश्चित करें। जिन आवेदकों के अभिलेख अंतिम तिथि तक आयोग कार्यालय में प्राप्त नहीं होंगे, के विषय में माना जायेगा कि वे साक्षात्कार में भाग नहीं लेना चाहते। उनकी उम्मीदवारी निरस्त कर आयोग द्वारा नियमानुसार कार्यवाही की जायेगी। आवेदक द्वारा दी गयी जानकारी की सूक्ष्म जाँच के बाद ही आवेदक को साक्षात्कार की पात्रता होगी। साक्षात्कार की तिथि अलग से घोषित की जायेगी।


राज्य सहकारी बैंकों में 20 वर्ष बाद होगी भर्ती
Our Correspondent :11 March 2017
राज्य सहकारी बैंक में पिछले 20 वर्ष में पहली बार विभिन्न पदों पर 1674 भर्तियाँ होने जा रही है सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने बताया कि इन भर्तियों से बैंक में मेन पावर की कमी पूरी होगी। आवेदन के लिए मध्यप्रदेश के रहवासी ही पात्र होगें वे ही आवेदन कर सकेंगे।
राज्य मंत्री श्री सारंग ने बताया कि राज्य सहकारी बैंकों में लंबे समय से स्टाफ की कमी महसूस की जा रही थी। इस दिशा में किए गए प्रयास के बाद कार्य की द्दष्टि से महत्वपूर्ण पदों को चिन्हांकित करने की कार्रवाई की गई। इसके प्रथम चरण में 1674 पद पर तत्काल भर्ती की आवश्यकता महसूस की गई। उन्होंने बताया कि इनमें 40 पद बैंकिग सहायक और 37 जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक में क्लर्क, कम्प्यूटर ऑपरेटर के 1634 पद पर भर्ती की जा रही है। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश के युवाओं को रोजगार मिलेगा वहीं जिला सहकारी बैंक के जरिये किसानों तथा आम उपभोक्ता को बेहतर सुविधाएँ दी जा सकेंगी।
राज्य मंत्री श्री सारंग ने बताया कि परीक्षा में पारदर्शिता के लिए परीक्षा ऑनलाइन होगी। इससे पहले प्री और बाद में फाइनल परीक्षाएँ होगी। आवेदक का तर्क ज्ञान, संख्यात्मक योग्‍यता के साथ ही कम्प्यूटर ज्ञान, सामान्य ज्ञान, जागरूकता आदि योग्‍यता भी देखी जायेगी। उन्होंने कहा है कि पिछले 20 वर्ष से भर्ती न होने के कारण बैकिंग कार्य में कठिनाई महसूस की जा रही थी। आगे भी यह प्रक्रिया जारी रहेगी और आवश्यकता के अनुसार भर्ती की जाएगी।


स्वास्थ्य मंत्री श्री रूस्तम सिंह की होली पर अपील
Our Correspondent :11 March 2017
लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण और आयुष मंत्री श्री रूस्तम सिंह ने प्रदेशवासियों को सोहार्दपूर्ण ढंग से हर्बल और सूखे रंगों से होली खेलने की अपील की है। श्री सिंह ने कहा कि दूसरों के ऊपर गीले और रसायनिक रंगों का उपयोग न करें। यह स्वास्थ्य के लिये काफी हानिकारक होते हैं। रसायनिक रंगों से आँखों, त्वचा को काफी नुकसान पहुँचता है और रंगों के पेट में जाने से स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ता है।
स्वास्थ्य मंत्री ने मिष्ठान विक्रेताओं से मावे में किसी भी प्रकार की मिलावट न करने और शुद्धता से बनी हुई मिठाईयाँ बेचने को कहा है। श्री सिंह सिंह ने कहा कि मिलावटी खाद्य पदार्थ स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव डालते हैं और त्यौहार की खुशी को खराब कर देते हैं।


खरगोन जिले के मेहताखेड़ी में उत्खनन से मिले 50 हजार वर्ष पुराने 350 दुर्लभ प्राचीन पुरावशेष
Our Correspondent :11 March 2017
पुरातत्व विभाग के श्रीधर वाकणकर पुरातत्व शोध संस्थान द्वारा खरगोन जिले के मेहताखेड़ी जो नर्मदा घाटी में तहसील बड़वा में पुरातात्विक उत्‍खनन से बेशकीमती 50 हजार वर्ष प्राचीन 350 पुरावशेष मिले हैं। दक्षिण कोरिया के प्रोफेसर डॉ. किडॉग ने उत्खनन स्थल का भ्रमण किया। उन्होंने यहाँ उत्खनन से बेहतर निष्कर्ष प्राप्त होने का दावा किया है।
पुरातत्व आयुक्त श्री अनुपम राजन ने बताया कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण नई दिल्ली से वर्ष 2017 के जनवरी माह में अनुमति प्राप्त होने के बाद देश की प्रसिद्ध पुरातत्वविद्, डेक्कन कॉलेज पूना की पूर्व विभागाध्यक्ष प्रोफेसर शीला मिश्रा के नेतृत्व में उत्खनन दल का गठन किया गया। संस्थान की और से शोध अधिकारी डॉ. जिनेन्द्र जैन, शोध सहायक डॉ. ध्रुवेन्द्र सिंह जोधा एवं डेक्कन कॉलेज के शोधार्थी डॉ. नीतू अग्रवाल, नम्रता विश्वास और गरिमा खन्सीली को यह जिम्मेदारी सौंपी गई।
श्री राजन ने बताया कि प्रोफेसर शीला मिश्रा एवं गठित दल ने फरवरी के द्वितीय सप्ताह में उत्खनन का कार्य शुरू किया। एक पखवाड़े में ही ट्रेन्च क्रमांक 1 से 200 एवं ट्रेन्च क्रमांक 2 से 150 पुरावशेष मिल चुके हैं। इनका विश्लेषण कर निष्कर्ष निकाले जायेंगे। इस तरह के उत्खनन में भू-गर्भीय जमाव, पुरा-भौगोलिक विश्लेषण और उपकरण प्रारूप के आधार पर मानव सभ्यता के विकास का अध्ययन किया जाता है। उत्खनन में प्राप्त मिट्टी को घोल कर व छान कर सूक्ष्म अवशेषों को खोजने का काम किया जा रहा है।
उल्लेखनीय है कि प्रो. शीला मिश्रा ने वर्ष 2009 में कराये गये उत्खनन से आधुनिक मानव से संबंधित अवशेष शुतुरमुर्ग के अंडे के टुकड़े प्राप्त किये थे। इन माइक्रो-ब्लेड की तिथि फिजिकल रिसर्च लेबोरेट्री अहमदाबाद के प्रो. सिंघवी द्वारा 50 हजार वर्ष पुरानी आँकी गई है। शुतुरमुर्ग के अंडे की कार्बन तिथि 42 हजार से अधिक पहले की प्रमाणित हुई है। माइक्रोलिथ यह औजार एवं उपकरण जिनका उपयोग प्रागैतिहासिक मानव द्वारा शिकार और उसके बाद के कार्य में लकड़ी और हड्डी में लगाकर किया जाता था।
पुरातत्व आयुक्त श्री राजन ने बताया कि हाल ही में किए गए पुरातत्वीय और जैवकीय अनुसंधानों के निष्कर्ष से सिद्ध होता है कि आज का मानव अनेक विभिन्नताओं के बावजूद एक लाख वर्ष पहले के दक्षिण अफ्रीका से प्रसारित समूहों से संबंध रखता है। मेहताखेड़ी क्षेत्र का मानव 50 हजार साल पहले अफ्रीका से विश्व में फैले मानव समूह से संबंधित है।
श्री राजन ने बताया कि मेहताखेड़ी से मिले प्राचीनतम पुरावशेष प्रमाणित करते हैं कि प्रदेश में प्राचीन, दुर्लभ ऐतिहासिक सामग्री प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है।


विश्व वानिकी-दिवस पर भोपाल में विशाल रैली
Our Correspondent :10 March 2017
अन्तर्राष्ट्रीय वानिकी दिवस- 21 मार्च और विश्व जल दिवस- 22 मार्च के उपलक्ष्य में जैव-विविधता बोर्ड द्वारा 19 से 22 मार्च तक 'जल-वन-नर्मदा व भोपाल' पर केन्द्रित जन-जागरूकता अभियान चलाया जायेगा। अभियान की शुरूआत 19 मार्च को भोपाल के टी.टी. नगर स्टेडियम में सुबह 7.30 बजे जागरूकता रैली से होगी। रैली का शुभारंभ मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान करेंगे। रैली में लगभग 5,000 प्रतिभागी भाग लेंगे। इनमें जन-प्रतिनिधि, भोपाल स्थित स्कूल एवं महाविद्यालय के छात्र-छात्राएँ, शासकीय विभागों और संस्थानों के प्रतिनिधि और आम नागरिक शामिल हैं।
रैली में भाग लेने के लिये www.mpsbb.nic.in से विस्तृत जानकारी ली जा सकती है। प्रतियोगिता में भागीदारी ऑनलाइन पंजीयन के आधार पर होगी। रैली के बाद 19 मार्च को ही 10.30 से 11.30 तक निबंध प्रतियोगिता और 12 बजे से 1 बजे तक चित्रकला प्रतियोगिता होगी।
अन्तर्राष्ट्रीय वानिकी दिवस पर 21 मार्च को आर.सी.व्ही.पी. नरोन्हा प्रशासन अकादमी में सुबह 10.30 से जल-वन-नर्मदा- भोपाल पर कार्यशाला आरंभ होगी। कार्यशाला वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, जल संसाधन मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र और नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह भी मौजूद रहेंगे।
विश्व जल दिवस 22 मार्च को प्रशासन अकादमी में जल क्रियान्वयन रणनीति पर कार्यशाला होगी, जिसमें विभिन्न विभागों के प्रतिनिधि भाग लेंगे। इसी के साथ जागरूकता कार्यक्रम का समापन होगा।


गृह निर्माण मंडल को 9वाँ विश्वकर्मा अवार्ड मिला
Our Correspondent :10 March 2017
राज्य नीति आयोग ने म.प्र. गृह निर्माण एवं अधोसंरचना विकास मंडल को 9वें विश्वकर्मा अवार्ड दिया है। यह अवार्ड सिंहस्थ-2016 में रिकार्ड समय में मात्र 17 माह में सर्वसुविधायुक्त 450 बिस्तर का मातृ एवं शिशु अस्पताल के निर्माण पर दिया गया है।
नीति आयोग की कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री डेवलपमेंट काउंसिल द्वारा देश भर की निर्माण एजेंसियों ने कार्यों की समीक्षा के दौरान प्रदेश के गृह निर्माण मंडल के कार्य और गुणवत्ता को बेहतर पाया गया। मंडल को बेस्ट कंस्ट्रक्शन प्रोजेक्ट कैटेगरी में देश में पहला अवार्ड मिला है। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह, गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष श्री कृष्णमुरारी मोघे और आयुक्त श्री नीतेश व्यास ने इस उपलब्धि के लिए सभी मंडल कर्मियों को बधाई दी है।


होली पर लकड़ी विक्रय के लिये बने अस्थाई केन्द्र
Our Correspondent :10 March 2017
वन विभाग ने होली पर्व पर भोपालवासियों को जलाऊ लकड़ी सुगमता से उपलब्ध करवाने के लिये शहर में 19 अस्थाई लकड़ी विक्रय केन्द्र खोले हैं। जलाऊ लकड़ी दरें 653 रूपये प्रति क्विंटल निर्धारित की गई हैं।
ये अस्थाई केन्द्र केन्द्र गाँधी नगर-बैरागढ़, जीआरडी क्रासिंग-शाहजहाँनाबाद, करोंद चौराहा, जहाँगीराबाद, छोला रोड, मंगलवारा, मयूर विहार, यूनानी शफाखाना, न्यू मार्केट, अहमदपुर, बाग सेवनिया, नेहरू नगर, बिट्टन मार्केट, सर्वधर्म कालोनी-कोलार रोड, पत्रकार कालोनी (कोलार रोड), गोविन्दपुरा और आनंद नगर में बनाये गये हैं। लकड़ी इन डिपो पर 11 से 13 मार्च तक उपलब्ध रहेगी।


हर जिले में लगेंगे महिला रोजगार, स्व-रोजगार मेले
Our Correspondent :9 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महिलाओं को रोजगार और स्व-रोजगार से जोड़ने के लिये हर जिले में महिला रोजगार, स्व-रोजगार मेलों का आयोजन किया जायेगा। वे आज भोपाल हाट में महिलाओं के लिये रोजगार, स्वरोजगार मेले 'स्वावलंबी महिला - सशक्त प्रदेश' का शुभारंभ कर रहे थे
मुख्यमंत्री ने कहा कि हर दिन माताओं, बहनों, बेटियों के सशक्तीकरण के लिये समर्पित होना चाहिये। । इसके लिये शिक्षा के साथ रोजगार जरूरी है। उन्होंने कहा कि बेटियों की पढ़ाई पर पूरा ध्यान दे। पढ़ाई का पूरा खर्चा सरकार उठायेगी। महिला सशक्तीकरण के लिये यह जरूरी है। बहनें अपने पैरों पर खड़ी हो। रोजगार के सारे मौके तलाश करेंगे। जो बहनें अपना काम शुरू करना चाहती हैं उन्हें सरकार की ओर से पूरा सहयोग किया जायेगा। रोजगार के लिये लोन वापसी की गारंटी सरकार देगी।
महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा कि महिलाओं के लिये रोजगार के कई अवसर है। उन्होंने कहा कि अपने परिवार के लिये आत्म-विश्वास के साथ अपना काम शुरू करना पड़ेगा। महिलाओं को आर्थिक रूप से स्वावलंबी बनाना सर्वोच्च प्राथमिकता है। अगले साल अपना रोजगार स्थापित करने वाली महिलाओं का सम्मेलन किया जायेगा।
मुख्यमंत्री ने स्व-रोजगारी महिलाओं और कौशल उन्नयन कार्यक्रम में भाग लेने वाली रोजगार की इच्छुक महिलाओं को ऋण राशि एवं प्रमाण-पत्र वितरित किये। इस अवसर पर मध्यप्रदेश रोजगार निर्माण बोर्ड के अध्यक्ष श्री हेमंत देशमुख, प्रमुख सचिव महिला-बाल विकास श्री जे. एन. कंसोटिया, कलेक्टर भोपाल श्री निशांत वरवडे़ और बड़ी संख्या में महिलाएँ उपस्थित थी।


जनपद स्तर पर महिला संरक्षण केन्द्र स्थापित होंगे
Our Correspondent :9 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महिलाओं के लिये प्रदेश में जनपद स्तर पर महिला संरक्षण केन्द्र स्थापित किये जायेंगे। यह केन्द्र राज्य सरकार और स्वयंसेवी संगठनों के सहयोग से संचालित होंगे। भविष्य में जमीनों के पट्टे महिलाओं के नाम पर ही दिये जायेंगे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कन्या विवाह/निकाह योजना में बेटियों को स्मार्ट फोन दिये जायेंगे। श्री चौहान आज बैतूल में नर्मदा महिला संघ के 15वें वार्षिक अधिवेशन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने इस मौके पर संघ के सभी समूहों को राष्ट्रीय आजीविका योजना से जोड़ने और 3 साल के लिये 40 करोड़ की सहायता देने की घोषणा की।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि शीघ्र ही विधानसभा में दुराचारी व्यक्ति को फाँसी देने के प्रावधान करने के लिये कानून पेश किया जायेगा और उसे पारित कर केन्द्र सरकार को भेजा जायेगा। उन्होंने कहा कि महिलाओं को चल-अचल सम्पत्ति का स्वामी बनाया जायेगा और जमीन का पट्टा महिलाओं के नाम हो, यह भी प्रयास किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने बताया कि महिलाओं की गंभीर बीमारियों के इलाज के लिये सरकार ने व्यवस्था की है। सामान्य बीमारी में 2 लाख रुपये तक का इलाज राज्य बीमारी सहायता कोष से करवाया जायेगा।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गरीब परिवार के बच्चों के 12वीं बोर्ड परीक्षा में 85 प्रतिशत नम्बर आने और उनका सिलेक्शन पीएमटी, पीईटी, लॉ, नर्सिंग और पॉलीटेक्निक में होने पर उनकी फीस सरकार वहन करेगी। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना में हितग्राही को एक लाख 20 हजार रुपये और शौचालय बनाने के लिये 12 हजार रुपये दिये जायेंगे। हितग्राही स्वयं श्रम करेगा तो उसे मनरेगा से राशि भी दी जायेगी।
मुख्यमंत्री ने नर्मदा महिला संघ से सामूहिक विवाह योजना में सहभागिता निभाने और गाँवों को नशामुक्त करने का अभियान चलाने को कहा। उन्होंने बताया कि नर्मदा नदी के 5 किलोमीटर के अन्दर की सभी शराब दुकानें बंद करने का निर्णय लिया गया है। श्री चौहान ने संघ द्वारा 255 गाँव में 872 समूह बनाने और 11 हजार 836 परिवारों को जोड़ने के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने इस बात की भी प्रशंसा की संघ ने घरेलू हिंसा के विरुद्ध भी प्रभावी अभियान चलाया है। उन्होंने बताया कि मलबरी और रेशम के कार्य में होशंगाबाद और बैतूल की 4,500 महिलाएँ जुड़ी हैं और उन्होंने सतपुड़ा रेशम उत्पादन लिमिटेड बनाया है। स्वतंत्र रूप से शिल्प का कार्य शुरू कर अनुकरणीय काम कर दिखाया है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि बैतूल में हर माह महिलाओं की जन-सुनवाई का आयोजन किया जाये।
मुख्यमंत्री ने बैतूल पुलिस के समर्थ संगनी कार्यक्रम पर आधारित फोल्डर का विमोचन किया। कार्यक्रम को संघ की अध्यक्ष श्रीमती सेवन्ती बाई ने भी संबोधित किया।
इस मौके पर लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, विधायक श्री हेमंत खण्डेलवाल, नगरपालिका अध्यक्ष श्री अल्केश आर्य भी उपस्थित थे।


ताप्ती नदी को संरक्षित और प्रदूषणमुक्त करने का अभियान चलेगा
9 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि 'नमामि देवि नर्मदे'-सेवा यात्रा के जरिये नर्मदा नदी के संरक्षण और संवर्धन के लिये जो अभियान चलाया जा रहा है, ऐसा ही अभियान ताप्ती नदी को संरक्षित और प्रदूषणमुक्त करने के लिये अगले साल से चलाया जायेगा। श्री चौहान आज बैतूल जिले के ग्राम बिसनूर में 382 करोड़ 29 लाख की लागत से बनने वाली पारसडोह मध्यम उदवहन सिंचाई परियोजना का शिलान्यास कर रहे थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि परियोजना के निर्माण से क्षेत्र के किसानों की एक बड़ी आवश्यकता पूरी होगी। उन्होंने कहा कि खेतों में सुलभता से पानी मिलेगा और किसानों का उत्पादन बढ़ेगा। सरकार का प्रयास है कि प्रदेश का हर जिला फसल उत्पादन में अग्रणी हो। उन्होंने कहा कि परियोजना की शुरूआत में 30 गाँव को सिंचाई का लाभ मिलेगा। जो गाँव छूट गये हैं, उन्हें दूसरे चरण में जोड़ा जायेगा। परियोजना में 200 गाँव में पेयजल के लिये पाइप लाईन बिछाई जायेगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश के सभी गाँव में पेयजल समस्या को दूर करने के लिये सरकार द्वारा हेण्डपम्प के स्थान पर नल-जल योजना स्थापित करने पर जोर दिया जा रहा है। प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना में हर जरूरतमंद को मकान और जमीन दी जा रही है।
मुख्यमंत्री ने बताया कि ताप्ती सेवा अभियान में नदी के किनारे पौधे लगाकर जल-स्रोतों को बढ़ाया जायेगा और प्रदूषण खत्म करने का काम किया जायेगा। नदी को सदानीरा बनाने के लिये बैराज बनाये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि बैतूल जिले की आवश्यकता को देखते हुए बंधा एवं बारंगवाड़ी डेम निर्माण का भी सर्वे किया जायेगा।
मुख्यमंत्री ने 3693 हितग्राहियों को कपिलधारा, प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास और प्रधानंत्री फसल बीमा योजना के हितलाभ वितरित किये। मुख्यमंत्री ने स्व-रोजगार योजना में ऑटोमेटिक लाण्ड्री के लिये 20 लाख और पशु आहार उत्पादन के लिये 17 लाख रूपये का चेक हितग्राही को सौंपा। उन्होंने अनुश्रवण और जन-संवाद, जनता का अधिकार तथा नि:शक्त विवाह योजना पर केन्द्रित पुस्तिका का विमोचन भी किया। शुरूआत में मुख्यमंत्री ने कन्या-पूजन किया।


देवास जिले के ग्राम पीपरी में यात्रा के आगमन पर हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम
Our Correspondent :8 March 2017
देवास जिले में नर्मदा सेवा यात्रा के 87वें दिन प्रवेश के बाद तहसील उदयनगर में जनसंवाद कार्यक्रम के बाद सेवा यात्रा अपने अगले पड़ाव की ओर बढ़ी। नर्मदा सेवा यात्रा किशनगढ़ फाटा, पीपलपाटी, पोलाखाल, बोरपड़ाव होती हुई पीपरी पहुँची। यात्रा का ग्रामीणों ने स्वागत किया। पीपरी गाँव के घरों में महिलाओं ने दीए जलाए हुए थे। घर के आँगन में आकर्षक रांगोली सजाई हुई थी। यात्रा के साथ महिलाएँ सिर पर कलश लेकर चल रही थी।
उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया ने किया जनसंवाद
ग्राम पीपरी में सनातन विचार परिसर में उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभानसिंह पवैया ने जनसंवाद को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि देवास उन भाग्यशाली जिलों में से एक है, जहाँ नर्मदा नदी बहती है। उन्होंने कहा कि नर्मदा के पानी से खेत सिंचित होते हैं, बिजली पैदा होती है और जन-सामान्य को पीने का पानी मिलता है। हम सब का कर्त्तव्य है कि नर्मदा नदी को स्वच्छ रखें। उन्होंने कहा कि किसानों को नर्मदा नदी के किनारे फलदार वृक्ष लगाने को मिलेंगे। आगे चलकर यह पेड़ किसानों की आर्थिक स्थिति को मजबूत करेंगे। उन्होंने कहा कि जनसंवाद का कार्यक्रम उस परिसर में हो रहा है, जहाँ माँ नर्मदा का मंदिर है। मंत्री श्री पवैया ने आशा व्यक्त की कि नर्मदा सेवा समिति के सदस्य अन्य लोगों को भी इस अभियान से जोड़ने में प्रभावी भूमिका निभाएंगे। विधायक चंपालाल देवड़ा ने भी संबोधित किया।
नर्मदा किनारे धाराजी में हुई संध्या आरती
पीपरी से लगभग 12 किलोमीटर दूर धाराजी में उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया की उपस्थिति में नर्मदा माँ की संध्या आरती हुई। आरती में विधायक श्री चंपालाल देवड़ा, वन समिति अध्यक्ष पोलाखाल के श्री जोशी, स्थानीय जन-प्रतिनिधि, कलेक्टर आशुतोष अवस्थी और पुलिस अधीक्षक अंशुमानसिंह सहित हजारों नागरिक शामिल हुए।
सांस्कृतिक कार्यक्रम
ग्राम पीपरी में स्कूल के बच्चों ने संगीत की मधुर धुनों पर नर्मदा नदी पर केन्द्रित सामूहिक नृत्य प्रस्तुत किए। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में ग्रामीण शामिल हुए। सांस्कृतिक कार्यक्रम में देवास महापौर सुभाष शर्मा और जिला पंचायत उपाध्यक्ष दौलत तंवर सहित अन्य जन-प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।


यात्रा की देवास जिले में भव्य स्वागत से हुई अगवानी
Our Correspondent :8 March 2017
नर्मदा सेवा यात्रा के देवास जिले में पहुँचने पर उल्लासपूर्वक स्वागत किया गया। यात्रा के 87वें दिन खरगोन जिले की सीमा पर स्थित देवास जिले के कनाड़ गाँव में प्रवेश पर श्रद्धा भाव से हजारों नर-नारियों ने यात्रा का स्वागत किया। यात्रा के प्रदेश प्रभारी श्री प्रदीप पांडे, पाठ्य पुस्तक निगम अध्यक्ष एवं जिले में यात्रा के प्रभारी श्री रायसिंह सेंधव, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री नरेंद्र सिंह राजपूत, जनपद अध्यक्ष बागली श्रीमती निर्मला कंठाली, श्री राजेश यादव, कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक सहित अन्य जन-प्रतिनिधि और ग्रामीण बड़ी संख्या में शामिल हुए।

श्रीमती अवस्थी ने सिर पर रखा कलश

यात्रा के जिले में प्रवेश पर कलेक्टर आशुतोष अवस्थी की धर्म पत्नी श्रीमती किरण अवस्थी ने सिर पर कलश रखा। कलेक्टर ने यात्रा ध्वज थामकर अगवानी की। विधायक चंपालाल देवड़ा ने उपस्थित जनों को नर्मदा नदी के संरक्षण और प्रकृति की सुरक्षा की शपथ दिलाई।

कनाड़ में उत्साह के साथ नर्मदा सेवा का हुआ प्रवेश

यात्रा का प्रवेश जिले के कनाड ग्राम में हुआ। प्रवेश के दौरान ग्राम में उत्साह का वातावरण था। क्षेत्रीय ग्रामीणों ने परंपरागत आदिवासी नृत्य किया। महिलाएँ सिर पर कलश रखकर यात्रा में शामिल हुई और मंगल गीत गाकर यात्रा की अगवानी की। अतिथियों ने कनाड़ नदी के किनारे पीपल, नीम, बरगद सहित अन्य पौधों का रोपण किया।

उदयनगर में उमड़ा जन-सैलाब

यात्रा जब उदयनगर पहुँची तो जैसे जन सैलाब ही उमड़ पड़ा। हजारों की संख्या में ग्रामीणों ने माँ नर्मदा के ध्वज और कलश पर पुष्प बरसाए। बाजार चौक में विधि-विधान से पूजन किया गया। सेवा यात्रा में सहभागी बने सभी नर-नारियों को तुलसी के पौधे भेंट कर भोजन कराया गया।

ईसाई प्रतिनिधियों ने किया स्वागत

उदयनगर में यात्रा के प्रवेश पर रानी मारिया कन्या हाई स्कूल की सिस्टर लीनसी सिस्टर, पुष्पा मारिया, सिस्टर फिल्सी, सिस्टर डीना, सिस्टर अलफोना, फादर संजय ग्रेवाल, फादर साइमंड, स्कूल के टीचर एवं विद्यार्थियों ने माँ नर्मदा के कलश की पूजा-अर्चना की तथा पुष्प माला पहनाई। जगह-जगह पर पुष्प वर्षा कर कलश की आरती और स्वागत हुआ।

बालिकाओं ने बनाई रांगोली

यात्रा के जिले में प्रवेश पर यात्रा के स्वागत के लिए ग्राम बिसाली की कक्षा सात की पलक राठौर एवं कक्षा चार की निशा नागर ने सुंदर रांगोली बनाई। उन्होंने बताया कि उनके क्षेत्र में यात्रा के आने से वे काफी खुश है।

पांडू तालाब में माँ नर्मदा की झाँकी

यात्रा के ग्राम पांडूतालाब में माँ नर्मदा की आकर्षक झाँकी बनाई गई। पलाश के फूल लिए ग्रामीणों ने यात्रा की अगवानी की। स्कूल के विद्यार्थी नर्मदा के संरक्षण संबंधी स्लोगन तख्तियाँ लेकर खड़े थे।

गाँव के घरों को सजाया

यात्रा के दौरान गाँवों को परम्परागत रूप से सजाया गया। घरों को पीली मिट्टी एवं गोबर से लीप कर उन पर मांडने बनाए गए। यात्रा मार्ग पत्तों के वंदनवार से सजाया गया।
नर्मदा सेवा यात्रा कनाड़ ग्राम में प्रवेश के बाद पांडूतालाब, बिसाली, उदयनगर सहित अन्य ग्रामों से होते हुए आगे बढ़ी।


महिला सशक्तिकरण के लिये समाज और सरकार दोनों मिलकर काम करें - मुख्यमंत्री श्री चौहान
Our Correspondent :8 March 2017
अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर आज विधानसभा में मातृशक्ति को समर्पित भव्य कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि समाज और सरकार दोनों को महिला सशक्तिकरण के लिये काम करना होगा। भारत में बेटियों, बहनों और माताओं को सर्वोच्च सम्मान दिया गया है। नारी का सम्मान करना भारत की संस्कृति है। केवल एक दिन महिला दिवस को मनाने से बेहतर है हर दिन महिलाओं के सम्मान को समर्पित होना चाहिए। उन्होंने महिला दिवस पर माताओं, बहनों, बेटियों को शुभकामनाएँ दी।
श्री चौहान ने कहा कि आज भी समाज पुरूष प्रधान है। उन्होंने कहा कि पुरूष प्रधान समाज में महिलाओं की स्थिति बेहतर बनाने के लिये महिलाओं को हर क्षेत्र में नेतृत्व देना जरूरी है। उन्हें स्थानीय निकायों में 50 प्रतिशत आरक्षण दिया गया हैं। आज वे पूरी दक्षता से प्रशासन चला रही है। पुलिस विभाग सहित अन्य सरकारी नौकरियों में 33 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है। उन्होंने कहा कि बेटों का जन्म चाहने की मानसिकता बदलने की जरूरत है।
श्री चौहान ने कहा कि पुरूष प्रधान मानसिकता महिलाओं की स्थिति को गहरे प्रभावित करती है। यदि समाज साथ नहीं दे तो सरकार कुछ नहीं कर सकती। समाज की मानसिकता बदलने की जरूरत है। महिलाओं के विरूद्ध घरेलू हिंसा रोकने के लिये सबको सहयोग करना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि बेटियों के साथ दुराचार करने वालों को फाँसी देना चाहिए। बेटियों को मान-सम्मान देने में कोई कोताही नहीं होगी। समाज की मानसिकता बदलने का काम करने की जिम्मेदारी सभ्य पढ़े-लिखे जिम्मेदार नागरिकों की भी है।
मुख्यमंत्री ने नशे को अपराधों की जड़ बताते हुए कहा कि केवल कानून बना कर नशामुक्ति नहीं हो सकती। सबको धीरे-धीरे संकल्पबद्ध होना होगा तभी प्रदेश पूरी तरह नशामुक्त होगा। सरकार और समाज दोनों को साथ-साथ चलना होगा। राज्य सरकार महिला सशक्तिकरण के लिए पूर्णता प्रतिबद्ध है।
विधान सभा अध्यक्ष श्री सीतासरण शर्मा ने वैश्विक परिदृश्य की चर्चा करते हुए कहा कि बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ भारत की संस्कृति को पहचानने और बचाने की पहल है।
महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने अपने संबोधन में कहा कि प्रदेश में बेटियों के लिये कई अनूठी योजनाएँ शुरू की गई हैं। उन्होंने बेटियों और माताओं की ओर से मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि घर-परिवार सम्हालने वाली महिलाओं का वित्तीय योगदान भारत सरकार के सालाना बजट से कहीं ज्यादा है। उन्होंने कहा कि सभी जिलों में महिला रोजगार मेलों का आयोजन किया जाएगा। भोपाल से शुरूआत हो रही है। उन्होंने कहा कि हर गाँव में पोषण आहार उपलब्ध कराने के लिए महिला-बाल विकास विभाग, कृषि विभाग के साथ मिलकर काम करेगा। उन्होंने कहा कि रक्षा-बंधन पर सभी भाई अपनी बहनों को नशा नहीं करने का वचन देकर नशामुक्ति की शुरूआत करें।
मुख्यमंत्री ने “जाग सखी” पुस्तिका, “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” के ब्रोशर और पोषण कैलेण्डर का विमोचन किया। अतिथियों को प्रतीक स्वरूप पोषण किट प्रदान किया गया। इस अवसर पर महिलाओं, बच्चों को उत्पीड़न से बचाने के प्रयास के लिये दिया जाने वाला एक लाख रूपये का रानी अवंतीबाई वीरता पुरस्कार ग्वालियर की सुश्री अभिरूचि श्रीवास्तव को दिया गया। महिलाओं के स्वास्थ्य संवर्धन से जुडे मुद्दों पर विशेष योगदान के लिये एक लाख रूपये का श्री विष्णु कुमार महिला एवं बाल कल्याण पुरस्कार होशंगाबाद के डॉ. यू.के. शुक्ला को प्रदान किया गया। सतना के मास्टर अक्षत झा को बेटियों को बचाने के प्रयासों पर आधारित फिल्म बनाने के लिये सम्मानित किया गया।
जिलों का सम्मान
इस अवसर पर लिंगानुपात सुधारने के लिये विशेष प्रयास करने और उपलब्धि हासिल करने वाले जिलों के कलेक्टरों और आयुक्तों को भी सम्मानित किया गया । एक लाख रूपये का प्रथम पुरस्कार मुरैना जिले को, 60 हजार रूपये का द्वितीय पुरस्कार ग्वालियर को और 30 हजार रूपये का तृतीय पुरस्कार बालाघाट को दिया गया। 'बेटी बचाओ बेटी-पढ़ाओ' पर सांगीतिक रचना के लिये गुना जिले की सुश्री सुचिता व्यास को भी सम्मानित किया गया।
प्रमुख सचिव महिला-बाल विकास श्री जे. एन. कंसोटिया ने महिलाओं की स्थिति की चर्चा की। आयुक्त महिला सशक्तिकरण श्री जयश्री कियावत ने आभार माना। इस अवसर पर विधानसभा उपाध्यक्ष श्री राजेन्द्र सिंह, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री श्रीमती ललिता यादव और नेता प्रतिपक्ष श्री अजय सिंह उपस्थित थे।


ग्रामोदय अभियान आगामी 14 अप्रैल से अभियान के दौरान एक दिन महिला ग्राम सभा होगी
Our Correspondent :7 March 2017
ग्रामों के सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन का प्रदेशव्यापी ग्रामोदय अभियान आगामी 14 अप्रैल से 31 मई तक चलेगा। इस बार अभियान के दौरान एक दिन महिला ग्राम सभा भी आयोजित की जाएगी, जिसमें महिलाओं और बच्चों से जुड़े विषयों पर चर्चा होगी। इसके अलावा कृषि तथा विभिन्न हितग्राहीमूलक योजनाओं पर केन्द्रित ग्राम सभाएँ अलग से होंगी। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज अभियान की तैयारियों की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि अभियान उद्देश्यपूर्ण हों। इस दौरान कृषि आय को दोगुना करने पर फोकस रहे। बैठक में मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह भी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अभियान के दौरान कृषि आय को दोगुना करने के लिए बनाए गए रोडमेप के बारे में किसानों को जागरूक किया जाए। कृषि रथ सभी ग्राम पंचायतों में जायें। अभियान के क्रियान्वयन की माइक्रो प्लानिंग करें। किसानों को कृषि और उद्यानिकी के क्षेत्र में किये जा सकने वाले कार्यों के बारे में बतायें। उन्होंने निर्देश दिए कि अभियान के कार्यक्रमों में जन-प्रतिनिधियों को शामिल करें। सभी प्रभारी मंत्री भी कम से कम तीन ग्राम सभा में जायेंगे।
बैठक में बताया गया कि 14 अप्रैल को अभियान की शुरूआत होगी। इसके बाद 15 अप्रैल से कृषि रथ ग्राम पंचायतों में जायेंगे। अभियान के दौरान सभी 313 विकासखण्ड में किसान सभा तथा 51 जिलों में कृषि मेले लगाये जायेंगे। इस दौरान मृदा स्वास्थ्य कार्ड भी वितरित किए जायेंगे। अभियान के दौरान पेयजल से संबंधित योजनाएँ भी शामिल की जायेंगी। अभियान के दौरान 22 से 31 मई तक पूरे प्रदेश की ग्राम पंचायतों में हितग्राहियों को लाभ वितरण किए जायेंगे।
बैठक में अपर मुख्य सचिव श्री आर.एस. जुलानिया, कृषि उत्पादन आयुक्त श्री पी.सी. मीणा, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव द्वय श्री अशोक वर्णवाल और श्री एस.के. मिश्रा, प्रमुख सचिव कृषि डॉ. राजेश राजौरा और प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री मनोज गोविल उपस्थित थे।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शुजालपुर रेल दुर्घटना की जाँच के दिये निर्देश
Our Correspondent :7 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने शुजालपुर के पास आज भोपाल-उज्जैन पैंसेजर ट्रेन में हुए विस्‍फोट की घटना की जाँच के निर्देश दिए हैं। साथ ही घायल व्यक्तियों को सहायता देने की घोषणा की है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पुलिस महानिदेशक, फारेंसिक साइंस, एसटीएफ और एटीएस के अधिकारियों को दल सहित तत्काल घटनास्थल पर पहुँचने और जाँच के निर्देश दिये हैं। उन्होंने सामान्य घायलों को 25 हजार रूपये और गंभीर रूप से घायलों को 50 हजार रूपये की सहायता देने की घोषणा की। साथ ही घायलों के इलाज की समुचित व्यवस्था करने के भी निर्देश अधिकारियों को दिये।
श्री चौहान ने दुर्घटना में घायल व्यक्तियों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है। उल्लेखनीय है कि भोपाल-उज्जैन पैंसेजर में शुजालपुर के पास आज मंगलवार की सुबह विस्फोट की घटना घटी।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मातृशक्ति, बेटियों को दी बधाई एवं शुभकामनाएँ
Our Correspondent :7 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर मातृशक्ति को नमन करते हुए महिलाओं को बधाई एवं शुभकामनाएँ दी हैं।
श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में महिला सशक्तिकरण की दिशा में अभूतपूर्व काम हुए हैं। राज्य शासन महिलाओं के सामाजिक, आर्थिक और शैक्षणिक स्तर में सुधार लाने के लिये संकल्पित है। उन्होंने कहा कि महिलाओं को हर प्रकार से सशक्त बनाने के लिये सुनियोजित योजनाओं के फलस्वरूप प्रदेश में बदलाव की स्थिति बनी है। बालिका जन्म की स्वीकारोक्ति बढ़ी है। बालिकाओं एवं महिलाओं से संबंधित कुप्रथाओं पर रोक लगी है और उनके प्रति होने वाले भेदभाव में कमी आई है। प्रत्येक स्तर पर महिलाओं की गरिमा को बनाये रखने के प्रयास किये जा रहे हैं।
श्री चौहान ने कहा कि राज्य शासन की महिला सशक्तिकरण की सुविचारित रणनीतियों से प्रदेश में समानता आधारित सामाजिक व्यवस्था का वातावरण बना है। महिलाओं को रोजगार के अवसर देकर उन्हें आर्थिक रूप से आत्म-निर्भर बनाने की दिशा में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं। इन निर्णयों से महिलाओं की सामाजिक, आर्थिक, शैक्षणिक और राजनैतिक स्थिति में तेजी से सकारात्मक परिवर्तन आ रहा है।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वैज्ञानिक श्री कुन्हीकृष्णन को विज्ञान प्रतिभा सम्मान से किया सम्मानित
Our Correspondent :6 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज सतीश धवन स्पेस सेंटर श्रीहरिकोटा के निदेशक वैज्ञानिक श्री पी. कुन्हीकृष्णन को दूसरे विज्ञान प्रतिभा सम्मान से सम्मानित किया। पुरस्कार म.प्र. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद और विज्ञान भारती द्वारा वर्ष 2016 से दिया जा रहा है।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वैज्ञानिक श्री कुन्हीकृष्णन का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि उनके नेतृत्व में मिली उपलब्धि से पूरा देश गौरवान्वित हुआ है। गहराई से देखा जाये तो विज्ञान और आध्यात्म एक ही है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में सिंहस्थ से पूर्व वैचारिक महाकुंभ का आयोजन करवाया गया था। इसमें विज्ञान और आध्यात्म विषय पर भी चिंतन हुआ था। उन्होंने भारत की सांस्कृतिक एकता में आदि शंकराचार्य के योगदान का उल्लेख करते हुए बताया कि प्रदेश के ओंकारेश्वर में आदि शंकराचार्य के जीवन और दर्शन पर वेदांत संस्थान की स्थापना की जा रही है। नदी संरक्षण के दुनिया के सबसे बड़े जन-आंदोलन नर्मदा सेवा यात्रा की भी जानकारी दी।
वैज्ञानिक श्री कुन्हीकृष्णन ने मुख्यमंत्री की सरलता-सहजता की सराहना की। उनको चन्द्रायन 2018 की लांचिंग के अवसर पर उपस्थित होने के लिये आमंत्रित किया। उल्लेखनीय है कि श्री कुन्ही कृष्णन इसरो द्वारा 104 उपग्रह प्रक्षेपित कर विश्व कीर्तिमान बनाने वाले मिशन के डायरेक्टर हैं।
इस अवसर पर म.प्र. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद के महानिदेशक श्री सी.के. पाटिल और विज्ञान भारती के राष्ट्रीय महासचिव श्री जयकुमार सहित अन्य उपस्थित थे।




थैलेसीमिया से पीड़ित श्वेता का इलाज सरकार करवायेगी
Our Correspondent :6 March 2017
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने थैलेसीमिया रोग से पीड़ित रतलाम जिले के मण्डावल गाँव की श्वेता के इलाज की समुचित व्यवस्था करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि श्वेता के इलाज का पूरा खर्च सरकार उठायेगी।
मुख्यमंत्री श्री चौहान को आज रतलाम जिले के ग्राम मण्डावल के बनेसिंह की बेटी श्वेता के थैलेसीमिया रोग से पीड़ित होने की जानकारी मिली थी। उन्होंने अधिकारियों को तत्काल उसके इलाज की व्यवस्था करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि इलाज का पूरा खर्च सरकार उठायेगी। इसके बाद वरिष्ठ अधिकारियों ने श्वेता का इलाज कर रहे चिकित्सकों से बात की और उन्हें मुख्यमंत्री की भावनाओं से अवगत कराया।
श्वेता का अभी इन्दौर के सी.एच.एल. अपोलो हास्पिटल में ईलाज चल रहा है।


हर-हर नर्मदे के जय-घोष से गूँज उठे महेश्वर-बड़वाह के गाँव
6 March 2017
मध्यप्रदेश की गौरवशाली पुण्य-सलिला माँ नर्मदा के संरक्षण और संवर्धन को लेकर मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की पहल पर निकली 'नमामि देवि नर्मदे'-सेवा यात्रा को सभी जगह भारी जन-समर्थन मिल रहा है। यात्रा आज महेश्वर ब्लॉक के गंगातखेड़ी गाँव से माँ नर्मदा की आरती, कलश एवं ध्वज पूजन और हर-हर नर्मदे के जय-घोष के साथ निकली। ग्रामवासियों ने यात्रियों का स्वागत कर संकल्प लिया कि वे नर्मदा को प्रदूषित नहीं होने देंगे।
गंगातखेड़ी में विधायक श्री राजकुमार मेव और अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष श्री भूपेंद्र आर्य ने जन-संवाद को संबोधित कर माँ नर्मदा को मप्र के विकास में मील का पत्थर बताया। नर्मदा यात्रा को लेकर यह बात तो स्पष्ट हो गई कि ग्रामवासी समझ चुके हैं कि उनके गाँव की अर्थ-व्यवस्था को मजबूत एवं विकसित करने में माँ नर्मदा का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। गाँव के बुजुर्ग श्री किशनलाल ने बताया कि उनके होश संभालने के 65 साल में नर्मदा के संरक्षण के प्रति इतना उत्साह पहले कभी नहीं दिखा। लोग नर्मदा नदी का उपयोग तो करते रहे, लेकिन उसके संरक्षण, संवर्धन और विकास का मूल मंत्र मुख्यमंत्री श्री चौहान ने फूँका। ग्रामीणों ने एक स्वर में कहा कि नर्मदा यात्रा से नदी के प्रति आस्था, विश्वास और संरक्षण का जो वातावरण निर्मित हुआ है, वह वर्षों तक कायम रहेगा।
गंगातखेड़ी से आगे ग्राम बठोली एवं लखनपुरा में भी यात्रा का भव्य और आत्मीय स्वागत हुआ। ग्राम बड़दिया सुर्ता में यात्रा के पहुँचने पर पुष्प-वर्षा से स्वागत किया। महिलाओं एवं बालिकाओं ने कलश से यात्रा की अगवानी की। जन-संवाद नर्मदा कलश एवं ध्वज तथा कन्या-पूजन के साथ शुरू हुआ। विधायक श्री मेव ने बड़ी संख्या में मौजूद ग्रामीणों को नर्मदा को प्रदूषण से मुक्त रखने का संकल्प दिलवाया। उन्होंने नर्मदाअष्टक प्रस्तुति करने वाली बालिकाओं को स्वेच्छानुदान से 11 हजार रूपए की राशि देने की घोषणा की।
श्री भूपेंद्र आर्य ने बताया कि माँ नर्मदा के संरक्षण का अभियान अब जन-आंदोलन बन गया है। इसमें जन-सहभागिता लगातार बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि जिन कारणों से नर्मदा प्रदूषित होती है उनकी रोकथाम होनी चाहिए। समाज भी अब इस बात से सहमत है। माँ नर्मदा की पवित्रता को बनाए रखने के लिए उसे प्रदूषणमुक्त रखना होगा। जन-संवाद को कोर ग्रुप के सदस्य सर्वश्री सुशील बर्वा, हरिसिंह चावड़ा, विनोद भाई आदि ने संबोधित कर जैविक खेती के महत्व की जानकारी दी। यात्रा के हमीरपुरा गाँव पहुँचने पर आरती, कलश और पुष्प-वर्षा से अगवानी की गई। नर्मदा सेवायात्रा महेश्वर ब्लॉक के गाँव के बाद दोपहर में बड़गाँव ब्लॉक के ग्राम रतनपुर, सेमरला, मुरल्ला, बेलसर और अपने रात्रि विश्राम स्थल रामगढ़ पहुँची। इन गाँवों में भी यात्रा का स्वागत कर नर्मदा को प्रदूषण से मुक्त रखने का संकल्प लिया गया।
सेवा यात्रा में पीनाज मसानी होगी शामिल
यात्रा में सुश्री पीनाज मसानी भी शामिल होगी। सुश्री मसानी मंगलवार को नावघाटखेड़ी में होने वाले कार्यक्रम में हिस्सा लेंगी। इसके बाद वे रात्रि विश्राम इंदौर में करेगी।


 
Copyright © 2014, BrainPower Media India Pvt. Ltd.
All Rights Reserved
DISCLAIMER | TERMS OF USE