Untitled Document


register
REGISTER HERE FOR EXCLUSIVE OFFERS & INVITATIONS TO OUR READERS

REGISTER YOURSELF
Register to participate in monthly draw of lucky Readers & Win exciting prizes.

EXCLUSIVE SUBSCRIPTION OFFER
Free 12 Print MAGAZINES with ONLINE+PRINT SUBSCRIPTION Rs. 300/- PerYear FREE EXCLUSIVE DESK ORGANISER for the first 1000 SUBSCRIBERS.

   >> सम्पादकीय
   >> राजधानी
   >> कवर स्टोरी
   >> विश्व डाइजेस्ट
   >> बेटी बचाओ
   >> आपके पत्र
   >> अन्ना का पन्ना
   >> इन्वेस्टीगेशन
   >> मप्र.डाइजेस्ट
   >> मध्यप्रदेश पर्यटन
   >> भारत डाइजेस्ट
   >> सूचना का अधिकार
   >> सिटी गाइड
   >> अपराध मिरर
   >> सिटी स्केन
   >> जिलो से
   >> हमारे मेहमान
   >> साक्षात्कार
   >> केम्पस मिरर
   >> फिल्म व टीवी
   >> खाना - पीना
   >> शापिंग गाइड
   >> वास्तुकला
   >> बुक-क्लब
   >> महिला मिरर
   >> भविष्यवाणी
   >> क्लब संस्थायें
   >> स्वास्थ्य दर्पण
   >> संस्कृति कला
   >> सैनिक समाचार
   >> आर्ट-पावर
   >> मीडिया
   >> समीक्षा
   >> कैलेन्डर
   >> आपके सवाल
   >> आपकी राय
   >> पब्लिक नोटिस
   >> न्यूज मेकर
   >> टेक्नोलॉजी
   >> टेंडर्स निविदा
   >> बच्चों की दुनिया
   >> स्कूल मिरर
   >> सामाजिक चेतना
   >> नियोक्ता के लिए
   >> पर्यावरण
   >> कृषक दर्पण
   >> यात्रा
   >> विधानसभा
   >> लीगल डाइजेस्ट
   >> कोलार
   >> भेल
   >> बैरागढ़
   >> आपकी शिकायत
   >> जनसंपर्क
   >> ऑटोमोबाइल मिरर
   >> प्रॉपर्टी मिरर
   >> सेलेब्रिटी सर्कल
   >> अचीवर्स
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> जीवन दर्शन
   >> कन्जूमर फोरम
   >> पब्लिक ओपिनियन
   >> ग्रामीण भारत
   >> पंचांग
   >> रेल डाइजेस्ट
  
मध्यप्रदेश डाइजेस्ट
mpinfo.org

: फीचर

बदलता मध्यप्रदेश : डॉ.एच.एल. चौधरी



डा. नरोत्तम मिश्रा, जनसंपर्क मंत्री, मध्यप्रदेश शासन : जीवन परिचय
.... More




D-81646/17-07-2017


aaतहसीलदार और नायब-तहसीलदार के रिक्त पदों की पूर्ति संविदा पर करने की मंजूरी


22 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में तहसीलदार, नायब-तहसीलदार के संभागवार रिक्त पदों की पूर्ति संविदा पर करने का निर्णय लिया गया। संविदा नियुक्ति सशर्त सेवानिवृत्त तहसीलदार एवं नायब-तहसीलदार से की जायेगी। इसमें 65 वर्ष तक की आयु सीमा वाले आवेदन कर सकेंगे। संविदा नियुक्ति के आधार पर तहसीलदार एवं नायब-तहसीलदार को उसी संभाग की सीमा के भीतर नियुक्त किया जायेगा। संविदा नियुक्ति की अवधि में इन्हें संभाग के भीतर स्थानांतरित किया जा सकेगा। शर्त अनुसार संविदा नियुक्ति के लिये आवेदन-पत्र देने वाला अधिकारी सेवानिवृत्ति से 10 वर्ष पहले तक कोई विभागीय जाँच प्रचलित होकर दण्डित नहीं हुआ हो और कभी भी लोकायुक्त प्रकरण/आपराधिक प्रकरण में दण्डनीय नहीं हुआ हो, पात्र होगा। सेवानिवृत्ति के समय प्राप्त कुल वेतन में से पेंशन की राशि घटाकर जो राशि आयेगी, वह राशि संविदा वेतन के रूप में देय होगी।
चिकित्सा शिक्षा के निर्णय मंत्रि-परिषद ने चिकित्सा शिक्षा विभाग के तहत छिंदवाड़ा, शिवपुरी, दतिया और रतलाम में नये चिकित्सा महाविद्यालयों की स्थापना करने की योजना के लिये नीतिगत अनुमोदन की मंजूरी दी। चिकित्सा महाविद्यालयों एवं संबद्व चिकित्सालयों में विभिन्न उपकरण स्थापित करने के लिये नीतिगत अनुमोदन की स्वीकृति दी गई। इसी प्रकार चिकित्सा महाविद्यालय ग्वालियर, जबलपुर एवं रीवा में सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल के लिये नीतिगत अनुमोदन की मंजूरी दी।
नगरीय विकास एवं आवास के फैसले मंत्रि-परिषद ने इंदौर विकास ‍प्राधिकरण की नगर विकास स्कीम में से ग्राम खजराना की भूमि कुल रकबा 2.570 हेक्टेयर भूमि को मध्यप्रदेश नगर तथा ग्राम निवेश अधिनियम के तहत नगर विकास स्कीम को निष्पादन के दौरान उपातंरित कर मुक्त किये जाने की मंजूरी दी। मंत्रि-परिषद ने राजधानी परियोजना वन मण्डल के तहत 38 अस्थाई पद को एक मार्च 2017 से आगामी पॉच वर्षों के लिये निरंतर रखने की मंजूरी दी।
प्रेस-प्रकोष्ठ अधिकारियों के विशेष वेतन में वृद्वि मंत्रि-परिषद ने राजभवन, मुख्यमंत्री और मंत्रालय में स्थापित प्रेस-प्रकोष्ठ में प्रचार- प्रसार कार्य के लिये पदस्थ जनसंपर्क विभाग के अधिकारियों को उनके द्वारा धारित पद अनुसार विशेष वेतन में वृद्वि करने का निर्णय लिया।
उच्च शिक्षा के फैसले मंत्रि-परिषद ने उच्च शिक्षा विभाग के तहत ''महाविद्यालयों में खेलकूद प्रोत्साहन योजना'' को तीन वर्ष में 5 करोड़ 50 लाख अनुमानित व्यय भार और योजना को निरंतर रखने की सैद्वान्तिक स्वीकृति दी। इसी तरह 'प्रतिभा किरण योजना' को तीन वर्ष में 8 करोड़ 44 लाख 5 हजार अनुमानित व्यय भार और योजना को निरंतर रखने की मंजूरी दी। 'आधुनिक तकनीक से शिक्षण व्यवस्था' को तीन वर्ष में 13 करोड़ 10 लाख अनुमानित व्यय भार और योजना को निरंतर रखने की मंजूरी दी। 'गॉव की बेटी योजना' को तीन वर्ष में 114 करोड़ 50 लाख अनुमानित व्यय भार और योजना को निरंतर रखने की स्वीकृति दी गई।
आदिम-जाति कल्याण विभाग के निर्णय मंत्रि-परिषद ने आदिम-जाति कल्याण विभाग की साइकिल प्रदाय योजना को वर्ष 2017-18 से 2019-20 के लिये निरंतरता की स्वीकृति दी। अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत सहायता/पुनर्वास सहायता योजना की वर्ष 2017-18 से 2019-20 के लिये निरंतरता की और 60 करोड़ की राशि की मंजूरी दी। आदिम जाति कल्याण विभाग की परीक्षा पूर्व प्रशिक्षण केंद्र योजना को वर्ष 2017-18 से 2019-20 के लिये निरंतरता और 15 लाख रूपये की स्वीकृति दी गई। मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना की वर्ष 2017-18 से 2019-20 तक के लिये निरंतरता और 158 करोड़ 18 लाख 43 हजार की मंजूरी दी गई। मंत्रि-परिषद ने आदिम-जाति कल्याण विभाग की कन्याओं को शिक्षण के लिये प्रोत्साहन प्रदाय योजना में पालक/अभिभावक की आयकर दाता नहीं होने के प्रतिबंध का विलोपन कर वार्षिक आय सीमा 6 लाख रूपये तक रखने का अनुमोदन किया। योजना के वर्ष 2017-18 से 2019-20 तक निरंतर संचालन और 64 करोड़ 80 लाख की राशि की मंजूरी दी। विशेष पिछड़ी जनजाति के विद्यार्थियों को गणवेश प्रदाय योजना को वर्ष 2017-18 से 2019-20 तक के लिये योजना की निरंतरता और 24 करोड़ 37 लाख 71 हजार रूपये की स्वीकृति दी। आदिवासी वित्त एवं विकास निगम की स्थापना अनुदान योजना को वर्ष 2017-18 से 2019-20 तक निरंतर संचालन और 27 करोड़ 40 लाख की राशि की मंजूरी दी गई।


aaराज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने किया प्रदेश में बाल शोषण समाप्ति अभियान का शुभारंभ


22 Aug 2017

म.प्र. बाल अधिकार संरक्षण आयोग एवं वर्ल्ड विजन इंडिया के संयुक्त तत्ववाधान में प्रदेश में बाल शोषण समाप्ति अभियान का शुभारंभ सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि 10 वर्षीय दिव्यांग तैराक मास्टर अब्दुल कादिर 'इंदौरी' रतलाम बने। मास्टर कादिर ने 2015 में तैराक नेशनल पैरालिंपिक गेम्स में एक गोल्ड, एक रजत और वर्ष 2017 में दो गोल्ड और एक रजत जीते हैं। राज्य मंत्री श्री आर्य ने कहा कि प्रतिस्पर्धा के युग में दिव्यांग भाई-बहन आगे बढ़ते हैं तो खुशी होती है। उन्होंने कहा कि जब कोई व्यक्ति प्रतियोगिता जीतता है तो देश का नाम रौशन करता है। जब देश का तिरंगा लेकर चलता है तो वह देश का गौरव होता है। महिला एवं विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने बाल संसद में पक्ष-विपक्ष के बच्चों के प्रश्नों के उत्तर दिये। बच्चों ने बाल संसद का रोचक तरीके से मंचन किया। दोनों पक्षों ने बाल संसद में जोरदार बहस की। श्रीमती चिटनिस ने बाल संसद को ध्यान से सुना और उन्होंने बच्चों को संसदीय प्रणाली की जानकारी भी दी। पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष श्री तपन भौमिक ने बाल संसद में भाग लेने वाले बच्चों और उनके परिवारों के कुल चार सदस्य के दो रात तीन दिन हनुमंतिया में रूकने पर 50 प्रतिशत की छूट देने की घोषणा की। उन्होंने बताया कि हनुमंतिया जल-महोत्सव 15 अक्टूबर से 5 जनवरी 2018 तक आयोजित किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा हनुमंतिया जल-महोत्सव के उदघाटन कार्यक्रम में मास्टर श्रेयेस वालमाटे, दिव्यांग मास्टर अब्दुल कादिर 'इंदौरी' प्रत्येक को 21 हजार रुपये सम्मान राशि दी जायेगी। कार्यशाला में बच्चों से संबंधित कानून, आई.टी.ई., जे.जे. एक्ट, 18 वर्ष से कम आयु के बच्चों द्वारा अपराध, कम आयु के बच्चे नशे की गिरफ्त में, पाक्सो एक्ट जिसमें बाल यौन शोषण अपराध और इसके अलावा मीडिया और सोशल मीडिया विषय पर राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) के न्यायिक सदस्य जस्टिस दलीप सिंह, वर्ल्ड विजन इंडिया के श्री माइकल प्रधान, लॉ कॉलेज भोपाल के प्रो. विश्वास चौहान, मध्यप्रदेश बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष श्री राघवेन्द्र शर्मा ने विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम में तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी, बरकततुल्ला विश्वविद्यालय के कुलपति श्री प्रमोद वर्मा, वर्ल्ड विजन इंडिया के श्री वर्गीस जैकब, बाल आयोग के सदस्य श्रीमती अमिता जैन, श्रीमती निर्मला बारेला, श्री आशीष कपूर, श्रीमती मधुमिता और प्रदेश से आये प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aamp.mygov और सीएम डेशबोर्ड से सजेगा डिजिटल मध्यप्रदेश


21 Aug 2017

मध्यप्रदेश सरकार नागरिकों से विकास संबंधी विषयों पर सीधे संवाद और योजनाओं पर नजर रखने के लिये दो अभिनव पहल करने जा रही है। इनमें से एक नागरिकों से विकास संबंधी विषयों पर सीधे संवाद करने के लिये उपयोगी रहेगी तो दूसरी के माध्यम से शासन की योजनाओं पर उच्च स्तर से नजर रखी जायेगी। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान दोनों सेवाओं को मंगलवार को केबिनेट बैठक के बाद लांच करेंगे।
mp.mygov पोर्टल नागरिकों से संवाद करने के लिये लोक सेवा अभिकरण द्वारा mp.mygov पोर्टल प्रारंभ किया जा रहा है। पोर्टल का मुख्य उद्देश्य प्रदेश के सामाजिक-आर्थिक विकास में नागरिकों के साथ विषय-विशेषज्ञों की भागीदारी और उनके विचारों से योजनाओं को परिणाम-मूलक बनाना है। पोर्टल पर मुख्यमंत्री द्वारा नागरिकों से संवाद 'दिल से', 'आओ मिल-बाँचें मध्यप्रदेश', 'हनुवंतिया जल-महोत्सव' के साथ अनेक विभागीय गतिविधियाँ क्रियान्वित की जायेंगी। सरकार के लिये जन-कल्याणकारी योजनाओं का लाभ अंतिम व्यक्ति को दिलवाने के लिये आमजन के साथ जरूरी सीधे संवाद में यह पोर्टल मील का पत्थर साबित होगा।
सीएम डेशबोर्ड विकास योजनाओं की निरंतर और सुव्यवस्थित समीक्षा के लिये सीएम डेशबोर्ड का लोकार्पण भी होगा। इसके माध्यम से प्रदेश स्तर पर यह आसानी से जाना जा सकेगा कि विभिन्न विभाग कृषि, स्वास्थ्य, जल-संसाधन, शिक्षा, रोजगार संबंधी अपनी गतिविधियों को कैसे संचालित कर रहे हैं। साथ ही यह योजनाओं के क्रियान्वयन में सामने आ रही चुनौतियों और वित्तीय संसाधनों में भी उपयोगी सिद्ध हो सकेगा। सरकार द्वारा जन-कल्याण के लिये मध्यान्ह भोजन, जननी सुरक्षा, लाड़ली लक्ष्मी, इंदिरा आवास योजना आदि अनेक योजनाओं का संचालन किया जा रहा है। इन सभी योजनाओं के क्रियान्वयन को परिणाम-मूलक बनाये रखने के लिये इन पर निरंतर नजर रखी जाना आवश्यक है। डेशबोर्ड पर उपलब्ध आंकड़ों द्वारा त्वरित प्रशासनिक निर्णय लेने में मदद मिलेगी। इसके माध्यम से प्रगति संबंधी आंकड़ों को संरक्षित और सुव्यवस्थित किया जा सकेगा। डेशबोर्ड की खासियत होगी कि यह हर स्तर पर आंकड़ों का स्पष्ट विश्लेषण भी प्रस्तुत करेगा।


aaराज्य मंत्री श्री शरद जैन ने किया राष्ट्रीय संसदीय विद्यापीठ के विजेताओं को पुरस्कृत


21 Aug 2017

चिकित्सा शिक्षा एवं संसदीय कार्य राज्य मंत्री श्री शरद जैन ने पं. कुंजीलाल दुबे राष्ट्रीय संसदीय विद्यापीठ द्वारा वर्ष 2016-17 में सम्पन्न प्रतियोगिताओं के विजेता प्रतिभागियों को समन्वय भवन में पुरस्कृत किया। इस अवसर पर श्री जैन ने कहा कि संसदीय लोकतंत्र को सुदृढ़ बनाने के लिये विधानसभा की कार्य प्रक्रिया का अध्ययन जरूरी है। संसदीय विद्यापीठ द्वारा निबंध वाद-विवाद, युवा संसद और विशेष दक्षता का आयोजन करने से नई पीढ़ी तैयार हो रही है।
निबंध प्रतियोगिता मंत्री श्री जैन ने राज्य स्तरीय विद्यालयीन निबंध प्रतियोगिता के विजेता कुमरी गीतश्री पटेल जवाहर नवोदय विद्यालय उज्जैन को प्रथम पुरस्कार 10 हजार, कुमारी प्रगति पुरोहित दिल्ली पब्लिक स्कूल कोलार 7 हजार पाँच सौ, कुमारी वैशाली पटेल जवाहर नवादेय विद्यालय बैतूल 5 हजार रूपये, कुमारी शिखा यादव और कुमारी मिहिका यादव को 2,500-2,500 हजार रूपये के चैक और प्रमाण-पत्र दिये। राज्य स्तरीय महाविद्यालय निबंध प्रतियोगिता के विजेता कु. सुमन लोधी महारानी लक्ष्मीबाई महाविद्यालय भोपाल को प्रथम पुरस्कार 10 हजार रूपये, श्री अनिश केशरी विज्ञान महाविद्यालय जबलपुर को द्वितीय पुरस्कार 7 हजार 500 रूपये, कु. भूमिका सोनी नवीन शासकीय महाविद्यालय शाजापुर को तृतीय पुरस्कार 5 हजार रूपये, कु. मुब्बशिरा खान भोपाल और ऋषभ जायसवाल देवास को 2,500-2,500 हजार रूपये के चैक और प्रमाण-पत्र दिये।
वाद-विवाद प्रतियोगिता श्री जैन ने वाद-विवाद प्रतियोगिता में कु. गुरजीत कौर सरस्वती शिशु मंदिर भोपाल को प्रथम पुरस्कार 10 हजार रूपये, कु. अनमोल सहगल को महर्षि एक्सीलेंस स्कूल भोपाल को 7 हजार 500 रूपये, कु. शिखा यादव को महर्षि एक्सीलेंस स्कूल भोपाल तृतीय पुरस्कार 5 हजार रूपये, कु. विप्रा भार्गव और कु. विदुषी सिंह भोपाल को 2 हजार 500 रूपये की प्रोत्साहन राशि के चैक और प्रमाण-पत्र दिये। श्री नितेश सिंह माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय भोपाल प्रथम पुरस्कार 10 हजार रूपये, कु. जुनियाली मालकोटी सरोजिनी नायडू महाविद्यालय भोपाल द्वितीय पुरस्कार 7 हजार 500 रूपये, तृतीय पुरस्कार कु. रितु मनवानी और श्री अजय दुबे माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय भोपाल को 5 हजार रूपये , श्री एस. योगेश्वर माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय भोपाल को सांत्वना पुरस्कार 2,500-2,500 हजार रूपये के चैक और प्रमाण-पत्र दिये गये।
युवा संसद प्रतियोगिता श्री जैन ने युवा संसद में नवीन विद्यालय भोपाल को प्रथम पुरस्कार 15 हजार रूपये, द्वितीय पुरस्कार हमीदिया विद्यालय भोपाल को 10 हजार रूपये, तृतीय पुरस्कार आदर्श विद्यालय भोपाल को 5 हजार रूपये का पुरस्कार दिया गया। इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल भोपाल को प्रथम पुरस्कार 15 हजार रूपये, द्वितीय प्ररस्कार ज्ञानगंगा इंटरनेशलन अकादमी भोपाल को 10 हजार रूपये, और तृतीय पुरस्कार महर्षि एक्सीलेंस स्कूल को 5 हजार रूपये का पुरस्कार के चैक प्रमाण-पत्र और ट्राफी प्रदान किये। शासकयी लक्ष्मीबाई महाविद्यालय भोपाल को प्रथम पुरस्कार 10 हजार रूपये, द्वितीय पुरस्कार पीपुल्स पत्रकारिता संस्थान भोपाल को 10 हजार रूपये और तृतीय पुरस्कार सत्य साई महाविद्यालय और केरियर विधि महाविद्यालय को 5-5 हजार रूपये के चैक, प्रमाण-पत्र प्रदान किये। कार्यक्रम में विधायक श्री यशपाल सिंह सिसोदिया, संसदीय कार्य विभाग की प्रमुख सचिव श्रीमती वीरा राणा, विधानसभा के प्रमुख सचिव ए.पी. सिंह, संसदीय विद्यापीठ के संचालक श्री राजेश गुप्ता और संसदीय विद्यापीठ के उप संचालक एम.के. राजोरिया उपस्थित थे।


aaमेधावी विद्यार्थी योजना युवाओं के स्वर्णिम भविष्य का क्षितिज : शाह


21 Aug 2017

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने कहा कि मध्यप्रदेश एक ऐसा राज्य है, जिसके संवेदनशील मुख्यमंत्री ने प्रदेश की युवा प्रतिभावान, उर्जावान युवा पीढ़ी को दुनिया में विकास ज्ञानार्जन और शोध के नए क्षितिज का स्पर्श करने का स्वर्णिम अवसर मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना आरंभ करके दिया है। मध्यप्रदेश के युवा इस योजना के अंतर्गत केन्द्र सरकार की मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया, स्टार्टअप इंडिया, स्टेंड अप इंडिया जैसी योजनाओं में सफलता अर्जित कर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नया इंडिया के निर्माण में भागीदार बनेंगे। श्री अमित शाह आज लाल परेड ग्रांउड पर आयोजित युवा उत्सव के अवसर पर मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना का उदघाटन कर रहे थे। श्री अमित शाह ने कहा कि भारत दुनिया में युवा देश के रूप में सभी का ध्यान आकर्षित कर रहा है। प्रधानमंत्री ने नया इंडिया के निर्माण का जो स्वप्न संजोया है, उसे साकार बनाने में युवा उर्जा निर्णायक योगदान करेगी। उन्होंने बताया कि भारत के निर्माण की प्रक्रिया से जुड़े हुए तमाम इंनीशिएटिव प्रधानमंत्री ने आरंभ किए है। मुद्रा बैंक योजना, मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया, स्टार्टअप इंडिया, स्टेंड अप, डिजीटल इंडिया जैसी योजनाओं के सफल होने पर भारत विश्व में महान शक्ति के रूप में उभरेगा। युवकों के लिए दुनिया में विकास की अपार संभावनाएं है लेकिन इन संभावनाओं को विकसित करने के लिए मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान ने मेधावी छात्र योजना के रूप में एक सशक्त मंच प्रदान किया है, जिसका युवा वर्ग को भरपूर लाभ उठाना चाहिए। श्री अमित शाह ने कहा कि श्री शिवराजसिंह चैहान ने वास्तव में प्रदेश में विकास के क्षेत्र में विलक्षण कार्य किया है और सभी वर्गो, आयु समूहों के प्रति अपनी संवेदनशीलता से उन्हें विकास के अवसर प्रदान किए है। इसी का प्रतिफल है कि मध्यप्रदेश बीमारू राज्य की श्रेणी से देश और दुनिया का एक सुविकसित राज्य बनकर सभी के लिए आश्चर्य चकित करता है। मेधावी छात्र योजना का उपहार देकर उन्होंने युवा वर्ग को अवसर के साथ चुनौती भी प्रदान की है कि वे जितना तकनीकी प्रौद्योगिकी की विधा में पढ़ना चाहे सरकार इसमें मददगार होगी। मुख्यमंत्री मेधावी छात्र योजना उनके लिए माध्यम बनेगी। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश ही नहीं देश में भी पिछले तीन वर्षों में श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में विकास के नए नए क्षितिज खुले है, जहां युवा वर्ग को अवसर मिले हैं। श्री नरेन्द्र मोदी को 2014 में सत्ता संभालने के साथ विरासत में ऐसी व्यवस्था मिली थी जहां निर्णयात्मक पहल शून्य हो चुकी थी। सरकार पिछले 10 वर्षों में यूपीए के शासनकाल में पाॅलिसी पैरालेसिस से ग्रस्त थी। श्री नरेन्द्र मोदी ने देश में सामाजिक, आर्थिक क्रांति लाकर देश को वैश्विक पटल पर खड़ा किया है और आज किसी भी निर्णय लेने के पहले विश्व शक्तियां श्री नरेन्द्र मोदी के सुझाव और परामर्श की मोहताज होती है। श्री नरेन्द्र मोदी ने भारत का सम्मान विश्व में बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी ने मेक इन इंडिया, स्टेंड अप जैसी योजनाओं से 50 लाख युवकों के लिए विकास के अवसर खोले है। साढ़े सात करोड़ युवकों को 10 लाख से लेकर 2 करोड़ तक का कर्ज दिया गया है। आज देश में सकारात्मक वातावरण है। सभी के लिए अवसर है। श्री नरेन्द्र मोदी सरकार ने ‘‘सबका-साथ सबका-विकास’’ मिशन देकर इसे साकार किया है। उन्होंने मुख्यमंत्री मेधावी छात्र योजना के अंतर्गत युवा वर्ग को प्रोत्साहन देते हुए योजना का प्रमाण पत्र भेंट किया। इस अवसर पर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने श्री अमित शाह का परंपरागत ढंग से स्वागत करते हुए मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना से अवगत कराया और कहा कि इसके अंतर्गत प्रदेश के हायर सेकेण्डरी में 75 प्रतिशत से अधिक अंक और सीबीएसई में 85 प्रतिशत अंक पाने वाले कुशाग्र बुद्धि विद्यार्थियों को उनकी रूचि के अनुसार उच्च शिक्षा संस्थाओं में अध्ययन का अवसर सुनिश्चित किया जायेगा। इन उच्च शिक्षा संस्थाओं आईआईटी, आईआईएम, मेडीकल, इंजीनियरिंग, ला जैसी तमाम संकायों में प्रवेश लेने पर उनकी पांच वर्षा की फीस मध्यप्रदेश सरकार वहन करेगी। प्रदेश में हजारों छात्रों को इस योजना से लाभ पहुँचने जा रहा है। 15 हजार छात्र आज इसका लाभ प्राप्त करेंगे। जिन्होंने इन उच्च शिक्षा संस्थाओं में प्रवेश लिया है। योजना के अंतर्गत करीब 32 हजार छात्र का पंजीयन हो चुका है।
राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह जी ने आदिवासी बंधु कमल सिंह उइके यहां भोजन किया भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने आज भोपाल से सटे सेवनियां गौड़ पहंुचे। उनके पहंुचने से ढ़ाई सौ घरों की बसाहट में जैसे खुशियों की बहार आ गयी। गौड़ बस्ती के आदिवासी बंधु कमल सिंह उइके के खपरेल वाले टूटे फूटे मकान में कदम रखते हुए गौंड परिवार ने श्री अमित शाह को दोपहर का भोजन कराया। श्री अमित शाह ने गौंड परिवार के आग्रह को तत्काल स्वीकार कर लिया। कमल सिंह गौंड ने गद्गद होकर राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह जी, मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान, प्रदेश संगठन प्रभारी एवं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. विनय सहस्रबुद्धे, राष्ट्रीय महामंत्री श्री अनिल जैन, प्रदेश अध्यक्ष श्री नंदकुमारसिंह चौहान को आत्मीयता से भोजन कराया। श्री अमित शाह ने गौड़ परिवार के घर के दाल, बाटी, कढ़ी, चावल और परंपरागत मिष्ठान्न सीरा के साथ भोजन किया और कमल सिंह उइके के परिवार का कुशल क्षेम पूछा। उसने बताया कि वह मेहनत, मजदूरी से आजीविका चल रहा है। लड़के बच्चे सरकारी स्कूल जाते हैं। कमल सिंह उइके ने बताया कि विश्व की सबसे बड़ी पार्टी भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह जी उसके खपरेल वाले घर में भोजन करने आए है। यह आदिवासी गौंड समाज के लिए गर्व की बात है।


aaराजस्व मंत्री ने काटजू और जे.पी. हास्पिटल में सुनी मरीजों की समस्याएँ


21 Aug 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने आज जे.पी. हास्पिटल में दिव्यांग मरीजों को प्राथमिकता से दवाइयाँ देने के निर्देश दिये। श्री गुप्ता ने काटजू और जे. पी. हास्पिटल में मरीजों की समस्याएँ सुनीं। श्री गुप्ता ने दिव्यांग मोहम्मद रफीक को विकलांगता प्रमाण-पत्र देने के निर्देश दिए। उन्होंने राधा बाई और रामबाई के इलाज के लिए मुख्यमंत्री बीमारी सहायता योजना में प्रकरण बनाने में निर्देश दिये। श्री गुप्ता ने चिकित्सकों से कहा कि निर्धारित समय पर हास्पिटल में उपस्थित रहें और मरीजों का उपचार करें। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे। शास्त्री नगर में वार्ड कार्यालय का भूमि-पूजन श्री उमाशंकर गुप्ता ने वार्ड-32 स्थित शास्त्री नगर में वार्ड कार्यालय भवन का भूमि-पूजन किया। भवन की लागत 10 लाख रुपये है। श्री गुप्ता ने कहा कि वार्ड कार्यालय बन जाने से नागरिकों की समस्याओं के निराकरण में सुविधा होगी। उन्होंने भवन निर्माण समय-सीमा में करने के निर्देश दिये। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaश्री मोदी के चमत्कारिक व्यक्तित्व पर श्री कैलाश सारंग की किताब "नरेन्द्र से नरेन्द्र" का विमोचन


19 Aug 2017

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और राज्यसभा सदस्य श्री अमित शाह ने कहा है कि स्वामी विवेकानंद ने 1890 में भारत को विश्व गुरू बनने का जो सपना देखा था वह प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व और मार्गदर्शन में 21वी सदी में पूरा होता दिख रहा है। आज भारत स्वामी विवेकानंद के बताये रास्ते पर आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि आने वाली सदी भारत की है। श्री शाह आज यहां प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के व्यक्तित्व, दर्शन और उनके मिशन पर प्रखर राजनीतिज्ञ श्री कैलाश नारायण सारंग द्वारा लिखी गई किताब "नरेन्द्र से नरेन्द्र" के विमोचन समारोह को संबोधित कर रहे थे। पुस्तक की प्रस्तावना इस सदी के महानायक प्रसिद्ध अभिनेता श्री अमिताभ बच्चन ने लिखी है। समारोह की अध्यक्षता मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने की। श्री शाह ने “नरेन्द्र से नरेन्द्र” पुस्तक का लोकार्पण किया। उन्होंने कहा कि श्री सारंग वरिष्ठ, अनुभवी और आत्म-विश्वास से भरे जीवंत व्यक्तित्व वाले नेता हैं। उनकी लिखी किताब युवाओं को प्रेरणा देगी। श्री शाह ने श्री नरेन्द्र मोदी के व्यक्तित्व और राजनैतिक यात्रा पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने कहा राष्ट्रभक्ति से परिपूर्ण और संस्कारित श्री मोदी ने गरीबी में रहते हुए भी कर्त्तव्य पथ नहीं छोड़ा। राष्ट्रभक्ति की भावना से भरे दृढ़ निश्चयी श्री मोदी ने 1974 से 2001 तक अपने जीवन का हर क्षण संगठन को खड़ा करने में लगाया। श्री शाह ने विस्तार से बताया कि श्री मोदी ने 1987 में कैसे भाजपा को संगठन के सहारे सत्ता दिलाई और कैसे 1986 से 1990 तक भाजपा की नींव और संगठन को मजबूत करने का काम किया। उन्होंने कहा कि परिणाम यह रहा कि भाजपा ने गुजरात में कोई भी चुनाव नहीं हारा। उन्होंने कहा कि 13 साल के मुख्यमंत्री के रूप में शासन करते हुए श्री मोदी ने विकास का गुजरात मॉडल प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि वर्ष 2013 में केन्द्र की सरकार ने भारत का मान-सम्मान गिरा दिया था। लोगों को अपेक्षा थी कि प्रधानमंत्री कुछ बोलेंगे लेकिन वे चुप रहे। आखिरकार लोगों ने श्री मोदी के चमत्कारिक व्यक्तित्व और भारत का नव निर्माण करने के दृढ़ निश्चय को देखते हुए उन्हें सत्ता सौंपी। श्री शाह ने कहा कि वर्ष 2014 से लेकर अब तक का समय इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा जायेगा। मात्र तीन सालों में पचास बड़े निर्णय लोगों के हित में लिये गये। उन्होंने कहा कि पहले की सरकारें ऐसे निर्णय लेती थीं, जो लोगों को पसंद थे। श्री मोदी ने इसे बदलते हुए ऐसे निर्णय लिये जो लोगों के लिये अच्छे हैं। श्री शाह ने कहा कि आज भारत इस स्थिति में है कि वह सबके साथ अच्छे संबंध रखे लेकिन कोई सीमा पार करने की कोशिश करे तो सर्जिकल स्ट्राइक भी कर सकते हैं। श्री शाह ने कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार ने लोगों का आत्म-सम्मान लौटाया है। पाँच करोड़ घरों में गैस सुविधा दी है ताकि माताओं-बहनों को चूल्हे हानिकारक धुँए से मुक्ति मिल सके। उन्होंने कहा कि श्री मोदी ने देश का सम्मान बढ़ाया है। भारतीय योग परंपरा को विश्व में स्थापित किया है। जलवायु परिवर्तन जैसे क्षेत्र में भारत को वैश्विक नेतृत्व मिला है। वे जहाँ भी जाते हैं हजारों लोग उनके सम्मान में एकत्र हो जाते हैं। यह सम्मान प्रत्येक भारतीय का सम्मान है। उन्होंने कहा कि आज विश्व कई समस्याओं के समाधान के लिये भारत की ओर देख रहा है। केवल तीन साल में कई काम ऐसे हुए हैं जो मील का पत्थर साबित हुए हैं। श्री मोदी के व्यक्तित्व के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा करते हुए श्री शाह ने कहा कि श्री मोदी खुद के बारे में कभी नहीं सोचते क्योंकि वे हमेशा दूसरों के हित और कल्याण के बारे में सोचते हैं। श्री शाह ने कहा कि आज भाजपा देश के 73 प्रतिशत भू-भाग पर काबिज है। भाजपा की सभी राज्य सरकारें मिलकर भारत को आगे बढ़ा रही हैं। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी भारत के लिये ईश्वर का वरदान है। उन्होंने कहा कि श्री मोदी के रूप में स्वामी विवेकानंद के व्यक्तित्व की झलक देख सकते हैं। उन्होंने कहा कि श्री मोदी ने पूरे देश को बदल दिया है और विश्व को उद्वेलित कर दिया है। उन्होंने कहा कि श्री मोदी जो कुछ करते हैं भारत माता की सेवा मानकर करते हैं। उन्होंने कहा कि श्री मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व गुरू बनेगा। उन्होंने कहा कि यह सुखद संयोग है कि श्री अमित शाह के रूप में भाजपा को ऐसा अध्यक्ष मिला है जो श्री मोदी के सपनों को पूरा करने के लिये लगातार पार्टी का विस्तार कर रहे हैं। वे भाजपा कार्यकर्ताओं के लिये प्रेरणा-स्रोत बन गये हैं। पुस्तक के लेखक पूर्व सांसद श्री कैलाश नारायण सारंग ने कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व और कठिन परिश्रम के कारण 2024 तक भारत विश्व गुरू के रूप में सुशोभित होगा। सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने स्वागत भाषण दिया। समारोह में केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री  श्री नरेन्द्र सिंह तोमर, केन्द्रीय सामाजिक न्याय मंत्री श्री थावर चंद गहलोत, केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते, विधानसभा अध्यक्ष श्री सीताशरण शर्मा, भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष द्वय श्री विनय सहस्त्रबुद्धे और श्री प्रभात झा, महासचिव द्वय श्री अनिल जैन और श्री कैलाश विजवर्गीय, भाजपा  के प्रदेशाध्यक्ष श्री नंदकुमार सिंह चौहान, संगठन सचिव श्री रामलाल, पंचायत मंत्री श्री गोपाल भार्गव, महापौर भोपाल श्री आलोक शर्मा, किताब के प्रकाशक मौसम बुक्स के श्री मनीष जैन, नवलोक भारत के प्रधान संपादक श्री विवेक सारंग और बड़ी संख्या में प्रबुद्धजन उपस्थित थे।


aaप्रतिवर्ष पौधों का रोपण करें : मुख्यमंत्री श्री चौहान


19 Aug 2017

चिकित्सा शिक्षा एवं संसदीय कार्य राज्य मंत्री श्री शरद जैन ने पं. कुंजीलाल दुबे राष्ट्रीय संसदीय विद्यापीठ द्वारा वर्ष 2016-17 में सम्पन्न प्रतियोगिताओं के विजेता प्रतिभागियों को समन्वय भवन में पुरस्कृत किया। इस अवसर पर श्री जैन ने कहा कि संसदीय लोकतंत्र को सुदृढ़ बनाने के लिये विधानसभा की कार्य प्रक्रिया का अध्ययन जरूरी है। संसदीय विद्यापीठ द्वारा निबंध वाद-विवाद, युवा संसद और विशेष दक्षता का आयोजन करने से नई पीढ़ी तैयार हो रही है। निबंध प्रतियोगिता मंत्री श्री जैन ने राज्य स्तरीय विद्यालयीन निबंध प्रतियोगिता के विजेता कुमरी गीतश्री पटेल जवाहर नवोदय विद्यालय उज्जैन को प्रथम पुरस्कार 10 हजार, कुमारी प्रगति पुरोहित दिल्ली पब्लिक स्कूल कोलार 7 हजार पाँच सौ, कुमारी वैशाली पटेल जवाहर नवादेय विद्यालय बैतूल 5 हजार रूपये, कुमारी शिखा यादव और कुमारी मिहिका यादव को 2,500-2,500 हजार रूपये के चैक और प्रमाण-पत्र दिये। राज्य स्तरीय महाविद्यालय निबंध प्रतियोगिता के विजेता कु. सुमन लोधी महारानी लक्ष्मीबाई महाविद्यालय भोपाल को प्रथम पुरस्कार 10 हजार रूपये, श्री अनिश केशरी विज्ञान महाविद्यालय जबलपुर को द्वितीय पुरस्कार 7 हजार 500 रूपये, कु. भूमिका सोनी नवीन शासकीय महाविद्यालय शाजापुर को तृतीय पुरस्कार 5 हजार रूपये, कु. मुब्बशिरा खान भोपाल और ऋषभ जायसवाल देवास को 2,500-2,500 हजार रूपये के चैक और प्रमाण-पत्र दिये। वाद-विवाद प्रतियोगिता श्री जैन ने वाद-विवाद प्रतियोगिता में कु. गुरजीत कौर सरस्वती शिशु मंदिर भोपाल को प्रथम पुरस्कार 10 हजार रूपये, कु. अनमोल सहगल को महर्षि एक्सीलेंस स्कूल भोपाल को 7 हजार 500 रूपये, कु. शिखा यादव को महर्षि एक्सीलेंस स्कूल भोपाल तृतीय पुरस्कार 5 हजार रूपये, कु. विप्रा भार्गव और कु. विदुषी सिंह भोपाल को 2 हजार 500 रूपये की प्रोत्साहन राशि के चैक और प्रमाण-पत्र दिये। श्री नितेश सिंह माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय भोपाल प्रथम पुरस्कार 10 हजार रूपये, कु. जुनियाली मालकोटी सरोजिनी नायडू महाविद्यालय भोपाल द्वितीय पुरस्कार 7 हजार 500 रूपये, तृतीय पुरस्कार कु. रितु मनवानी और श्री अजय दुबे माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय भोपाल को 5 हजार रूपये , श्री एस. योगेश्वर माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय भोपाल को सांत्वना पुरस्कार 2,500-2,500 हजार रूपये के चैक और प्रमाण-पत्र दिये गये। युवा संसद प्रतियोगिता श्री जैन ने युवा संसद में नवीन विद्यालय भोपाल को प्रथम पुरस्कार 15 हजार रूपये, द्वितीय पुरस्कार हमीदिया विद्यालय भोपाल को 10 हजार रूपये, तृतीय पुरस्कार आदर्श विद्यालय भोपाल को 5 हजार रूपये का पुरस्कार दिया गया। इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल भोपाल को प्रथम पुरस्कार 15 हजार रूपये, द्वितीय प्ररस्कार ज्ञानगंगा इंटरनेशलन अकादमी भोपाल को 10 हजार रूपये, और तृतीय पुरस्कार महर्षि एक्सीलेंस स्कूल को 5 हजार रूपये का पुरस्कार के चैक प्रमाण-पत्र और ट्राफी प्रदान किये। शासकयी लक्ष्मीबाई महाविद्यालय भोपाल को प्रथम पुरस्कार 10 हजार रूपये, द्वितीय पुरस्कार पीपुल्स पत्रकारिता संस्थान भोपाल को 10 हजार रूपये और तृतीय पुरस्कार सत्य साई महाविद्यालय और केरियर विधि महाविद्यालय को 5-5 हजार रूपये के चैक, प्रमाण-पत्र प्रदान किये। कार्यक्रम में विधायक श्री यशपाल सिंह सिसोदिया, संसदीय कार्य विभाग की प्रमुख सचिव श्रीमती वीरा राणा, विधानसभा के प्रमुख सचिव ए.पी. सिंह, संसदीय विद्यापीठ के संचालक श्री राजेश गुप्ता और संसदीय विद्यापीठ के उप संचालक एम.के. राजोरिया उपस्थित थे।


aaभाजपा अध्यक्ष का अजय सिंह को करारा जवाब केन्द्र सरकार ने मप्र को तीन साल में 5 लाख करोड़ दिए लेकिन अजय सिंह बताए कि यूपीए सरकार ने इस प्रदेश को इतने सालों में क्या दिया ?


19 Aug 2017

भोपाल। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने मध्यप्रदेश विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता श्री अजय सिंह को उनके पत्र पर करारा जवाब दिया है। श्री शाह ने कहा है कि केन्द्र सरकार ने मध्यप्रदेश के विकास के लिए और मध्यप्रदेश की जनता के कल्याण के लिए मात्र 3 साल में 5 लाख करोड़ की धनराशि दी है। जिससे यहां के जीवन स्तर में उत्तरोत्तर सुधार आ रहा है। लेकिन क्या श्री अजय सिंह के पास इस बात का कोई जवाब है कि यूपीए सरकार ने इतने वर्षो तक मध्यप्रदेश के लिए क्या किया ? उल्लेखनीय है कि श्री अजय सिंह ने भाजपा अध्यक्ष के मध्यप्रदेश के दौरे को लेकर एक पत्र के माध्यम से यह सवाल पूछा था कि केन्द्र सरकार ने मध्यप्रदेश के कल्याण के लिए क्या किया है ? श्री शाह ने आज प्रबुद्ध नागरिक सम्मेलन में इस पत्र पर पलटवार करते हुए कांग्रेस नेता को सीधे सीधे कठघरे में खडा कर दिया।
श्री शाह ने कहा कि हम राजनीति में केवल चुनाव जीतने के लिये नहीं आये। केन्द्र में हमारी सरकार बनने के बाद तीन साल में 50 ऐसे काम हुए हैं, जबकि पहले की सरकारों में 50 साल में गिनाने लायक सिर्फ 3 काम होते थे। श्री शाह ने कहा कि व्यवस्था परिवर्तन जैसे बुनियादी काम दृढ-निश्चय से होते हैं। नोटबंदी ऐसा ही एक बुनियादी कदम है, जो भ्रष्टाचार के खात्मे में एक कारगर अस्त्र साबित हुआ है। उन्होंने कहा कि जन-धन योजना में गरीबों के 29 करोड़ खाते खोले गये हैं। उज्जवला योजना में महिलाओं को 2 करोड़ 80 लाख गैस कनेक्शन निःशुल्क उपलब्ध कराये गये हैं। स्वच्छता अभियान में देश में अब तक 450 करोड़ शौचालय बनाये गये हैं। श्री शाह ने कहा कि इन सब कदमों से यह जाहिर होता है कि सरकार उसके लिये होती है, जिसके जीवन में अंधेरा होता है।
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि जीएसटी जैसे मौलिक सुधार का असर पूरा विश्व 5 साल बाद देखेगा। उन्होंने कहा कि वन रैंक वन पेंशन लागू कर 4 करोड़ जवानों को लाभान्वित किया गया है। श्री शाह ने पाकिस्तान में की गयी सर्जिकल स्ट्राइक का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि मई-2018 तक देश के सभी गाँव में बिजली पहुँचा दी जायेगी। श्री शाह ने बेनामी सम्पत्ति के विरुद्ध बनाये गये कानून, गरीबों को सस्ती दवाई की व्यवस्था, ह्रदय रोग के लिये स्टेन की कीमत को 2 लाख से घटाकर 30 हजार तक लाने का भी उल्लेख किया।
केन्द्र सरकार द्वारा मध्यप्रदेश के उत्थान के लिए दिया गया योगदान एक नजर में
1..मध्यप्रदेश को 13वें वित्त आयोग की तुलना में 14वें वित्त आयोग से ढाई गुना अधिक राशि मिली है। प्रदेश को 13वें आयोग से 134190 करोड़ की राशि प्राप्त हुई थी। 14वें वित्त आयोग से यह राशि बढ़कर 344126 करोड़ हो गयी। इसमें केन्द्रीय कर से 3 गुना, अनुदान सहायता में दोगुना, राज्य आपदा प्रतिक्रिया निधि में दोगुना से अधिक और स्थायी निकाय अनुदान के अंतर्गत लगभग 4 गुना राशि प्राप्त हुई।
2..प्रदेश को 14वें वित्त आयोग से 3 वर्ष में 2,06,475 करोड़, केन्द्रीय योजनाओं में निवेश आवंटन के अंतर्गत 31,859 करोड़, उज्जवल डिसकाम एश्योरेंस योजना में 17,500 करोड़, सात खनिज ब्लॉक आवंटन से मिलने वाले कुल अनुमानित राजस्व के रूप में 54,834 करोड़ रुपये की प्राप्ति हुई है।
3..केन्द्रीय योजनाओं में आवंटन, निवेश और खर्च के रूप में प्रदेश को मुद्रा लोन के कुल 60 लाख लाभार्थी के अंतर्गत 20,960 करोड़, स्मार्ट सिटी योजना में 984 करोड़, अमृत मिशन में 2593 करोड़, स्वच्छ भारत शहरी मिशन में 427 करोड़, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के लिये 53 करोड़, शहरी परिवहन के लिये 2.22 करोड़, प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना में 860 करोड़, मृदा स्वास्थ्य प्रबंधन के अंतर्गत 68 करोड़, नेशनल एग्रीकल्चर मार्केटिंग के अंतर्गत 58 मण्डियों को ई-मण्डी बनाने के लिये 11 करोड़, समन्वित सहकारिता विकास योजना में 1794 करोड़, प्रधानमंत्री आवास योजना के 312 प्रोजेक्ट के 2,56,638 आवास के लिये 3840 करोड़ और वाइल्ड लाइफ बुद्धिस्ट हेरीटेज सर्किट के लिये 267 करोड़ प्राप्त हुए हैं।
4..प्रधानमंत्री जन-धन योजना में प्रदेश में कुल 2 करोड़ 61 लाख खाते खुले। इन खातों में 3096 करोड़ रुपये का कुल जमा है। कुल 1.42 करोड़ एलईडी बल्ब के वितरण से प्रतिवर्ष 737 करोड़ की बचत होगी। प्रधानमंत्री उज्जवला योजना में प्रदेश में 26.20 लाख एलपीजी कनेक्शन निरूशुल्क वितरित किये गये हैं।
5..स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत प्रदेश में 143 शहर, 17 हजार 616 गाँव और 11 जिले खुले में शौच से मुक्त घोषित हुए हैं।
6..प्रधानमंत्री उज्जवला, प्रधानमंत्री जन-धन, प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक, प्रधानमंत्री आवास, प्रधानमंत्री जन-सुरक्षा बीमा, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना और स्वच्छ भारत अभियान जैसी केन्द्रीय योजनाओं से प्रदेश में लाभार्थी संख्या 5 करोड़ 19 लाख है।


aaभारत और दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के संबंध विश्व राजनीति का निर्धारण करेंगे-राज्यपाल श्री कोहली


18 Aug 2017

भारत आसियान यूथ समिट का समापन समारोह आज राज्यपाल श्री ओ.पी. कोहली की अध्यक्षता और विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम में संयुक्त राष्ट्र की यूथ एन्वाय सुश्री जयथमा विक्रमानायके विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थी। होटल जहाँनुमा में आयोजित इस कार्यक्रम में ब्रुनेई, कम्बोडिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलिपिन्स, सिंगापुर, थाईलैण्ड, वियतनाम और मेजवान देश भारत के प्रतिनिधि सम्मिलित हुए। इस अवसर पर भोपाल यूथ डिक्लेरेशन भी जारी किया गया। इंडिया आसियान यूथ समिट के समापन अवसर पर राज्यपाल श्री ओमप्रकाश कोहली ने कहा कि मध्यप्रदेश का दक्षिण पूर्व के देशों के साथ बहुत प्राचीन संबंध रहा है। साँची विभिन्न देशों के बीच शांति और सदभाव का प्रतीक है। भारत और दक्षिण पूर्व एशिया के देशों के बीच 2000 साल से भी पुराने सांस्कृतिक, व्यापारिक, आध्यात्मिक और वैचारिक संबंध हैं। यह संबंध युद्ध या हार-जीत के कारण विकसित नहीं हुआ बल्कि इसका आधार परस्पर प्रेम और अन्य मानवीय आवश्यकताएँ रही। आज मलेशिया, सिंगापुर आदि देशों में भारतीय मूल के लोग बड़ी तादाद में है। भारत और दक्षिण पूर्व देशों के बीच सिर्फ साझा सांस्कृतिक और सभ्यता की विरासत ही नहीं है बल्कि इसका संबंध देशों की सुरक्षा, क्षेत्र में शांति, स्थायित्व और समृद्धि से भी है। श्री कोहली ने कहा कि भारत आज दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था वाला देश बनकर उभरा है। आसियान देशों के लिये भारत के साथ मिलकर अपने आर्थिक स्थिति में सुधार के अभूतपूर्व अवसर उपलब्ध हैं। किसी भी देश के विकास में युवाओं की भूमिका सबसे अधिक महत्वपूर्ण होती है। भारत आज दुनिया भर में युवा-शक्ति के बल पर अपनी श्रेष्ठता का परचम लहरा रहा है। राज्यपाल ने कहा कि अब यह जरूरी हो गया है कि भारत और आसियान देशों के युवाओं के बीच परस्पर सम्पर्क होते रहे। उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि हमारे 2000 साल पुराने संबंध नई ऊँचाइयों को प्राप्त करेंगे और हम लोग मिलकर विश्व में शांति और सदभाव बढ़ाने की दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभायेंगे। राज्यपाल श्री कोहली ने 'वायब्रैंट इंडो-आसियान लीडरशिप' नामक पुस्तक का विमोचन भी किया। इस अवसर पर विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज ने यूथ समिट के प्रतिनिधियों का अभिवादन करते हुए कहा कि बदलाव की सर्वाधिक क्षमता युवा वर्ग में है। गौतम बुद्ध के विचारों में युवावस्था में आये परितर्वन ने सम्पूर्ण विश्व को नई दिशा दी। उनके मध्य मार्ग के सिद्धांत का सार्वभौमिक और सर्वकालिक प्रभाव है। वर्तमान में शासन संचालन और नीति निर्माण तथा सतत् विकास के लक्ष्यों के संबंध में युवाओं की महत्ती भूमिका है। युवाओं को तर्क करने और योजनाओं के क्रियान्वयन में सहभागिता करने निर्णय प्रक्रिया में भाग लेने के बहुत मौके उपलब्ध हैं। श्रीमती स्वराज ने गौतम बुद्ध को उद्घृत करते हुए कहा कि ' शांति से बड़ा कोई वरदान नहीं है। युवा वर्ग विश्व को सतत् शांति और विकास की दिशा में अग्रसर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगा। उन्होंने आशा व्यक्त की कि भोपाल यूथ डिक्लेरेशन आसियान देशों की भविष्य की मैत्री और परस्पर प्रगति का मार्ग प्रशस्त करेगा। इस अवसर पर संयुक्त राष्ट्र की यूथ एन्वाय सुश्री जयथमा विक्रमानायके ने अपने संबोधन में कहा कि संयुक्त राष्ट्र के सतत् विकास लक्ष्य की सफलता आसियान देशों में इन लक्ष्यों के सफल क्रियान्वयन पर निर्भर करती है। भारतीय युवा की सृजन, नवाचार और पहल की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि कौशल और क्षमता विकास की दिशा में हो रहे प्रयास से क्षेत्र में प्रगति के नये आयाम अर्जित होंगे। समापन अवसर पर विदेश मंत्री श्रीमती स्वराज ने विदेशी प्रतिनिधियों के सम्मान में भोज दिया।


aaइंडिया आसियान यूथ समिट में भोपाल डिक्लेरेशन पर हुई चर्चा


18 Aug 2017

भारत आसियान यूथ समिट के चौथे दिन आसियान देशों के प्रतिनिधियों के बीच भोपाल-2017 डिक्लेरेशन पर चर्चा हुई। ब्रुनेई, कम्बोडिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलिपिन्स, सिंगापुर, थाईलैण्ड, वियतनाम और मेजवान भारत के प्रतिनिधियों ने विभिन्न मुद्दों पर समिट के दौरान हुई चर्चा को डिक्लेरेशन में शामिल करने पर सहमति जताई। डिक्लेरेशन के लिये जिन मुद्दों को शामिल किया गया इनमें शांतिपूर्ण और नियमों पर आधारित विश्व समाज में रहने की प्रतिबंद्धता जताई। इंडिया और आसियान के युवाओं द्वारा शांति, स्थिरता और परस्पर समृद्धता इडों पैसिफिक रीजन में बनाने के लिये राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर सरकार द्वारा किये जा रहे कार्य से जुड़ने की बात कही। इंडिया और आसियान के युवाओं के बीच में परस्पर संवाद को बढ़ावा देने की बात भी कही। समिट में प्रतिनिधियों ने इच्छा जताई की वह आसियान इंडिया पार्टनर्शिप फॉर पीस, प्रोग्रेस एण्ड सेयर्ड प्रासप्रेरिटी (2016-2020) और आसियान 2025 पर क्वालालम्बपुर डिक्लेरेशन पर लगातार ... समिट में 2030 के एजेण्डा जोकि दुनियां के देशों ने यू.एन. समिट 2015 में निर्धनता खत्म करने दुनिया को प्रोटेक्ट करने और सभी को समृद्धि के लिये अंगीकार किया उसके तहत 17 सस्टेनेवल डेव्हलपमेंट गोलस् को स्वीकार किया गया। समिट में इंडिया और आसियान देशों की जनता के बीच में सभ्यता और संस्कृति को आदान-प्रदान कर दोस्ती को बढ़ावा देना। युवाओं के दायित्व को खासतौर से नैतिक, आध्यात्मिक और सांस्कृतिक मूल्यों को बढ़ावा देने में और सामूहिक उत्तरदायित्व तथा जिम्मेदार नेतृत्व को मजबूत बनाने के लिये, आसियान देशों के बीच परस्पर अर्थपूर्ण सहयोग बनाने और इसके लिये सकारात्मक नीतियों और कार्यक्रमों को बनाने पर जोर दिया गया। समिट में बेरोजगारी, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के अभाव और महिलाओं से भेदभाव रोकने को आज के युग की युवाओं की चुनौती माना गया। समिट डिक्लेरेशन के लिये तय किया गया कि आसियान देशों के बीच विद्यार्थियों, युवाओं, समुदाय के प्रतिनिधियों, विचारकों और अध्यताओं एक-दूसरे देश में भ्रमण कर सम्पर्क कायम रखने की बात कही गई। आसियान देशों के विश्वविद्यालय में छात्रवृत्ति प्रोग्राम, अकादमिक एक्सचेंज प्रोग्राम आदि के संबंध में भी चर्चा की गई। युवा उद्यमियों का नेटवर्क बनाने पर भी चर्चा हुई। डिजिटल और आईटी कनेक्टिविटि को इंडिया आसियान रीजन प्रमोट करने की बात कही गई। जिससे की युवाओं को संचार तकनीक की उपलब्धता हो और वह आसानी से नॉलेज और स्किल प्राप्त कर अर्थ पूर्ण वैश्विक नॉलेज बेस्ड इकोनामी में सहभागिता सुनिश्चित कर सके। सामाजिक, सांस्कृतिक विकास की प्रक्रिया में स्वैच्छिक युवा समूह की सामर्थ्य को मजबूती देने के लिये भी बात कही गई। युवा संबंधी अनुसंधान और विकास के साथ विज्ञान और तकनीकी जानकारी को शेयर करने की नीति को बढ़ावा देने की बात कही गई। एक ऐसा वातावरण बनाने जिसमें युवाओं को स्वयं को अभिव्यक्त करने, नवाचार करने, राष्ट्र निर्माण के कार्यक्रमों और इंडो पैसेफिक क्षेत्र निर्माण के कार्यक्रमों में बढ़ावा मिले और उन्हें सुविधा दे। डिक्लेरेशन में इंडिया आसियान यूथ सचिवालय की बात भी कही गई जो इस डिक्लेरेशन के एजेण्डा को क्रियान्वित करें।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा श्री अमित शाह का आत्मीय स्वागत


18 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने सांसद एवं भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह का प्रदेश दौरे पर आज भोपाल पहुँचने पर विमानतल पर आत्मीय स्वागत किया। इस अवसर पर सांसद एवं भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री विनय सहस्त्रबुद्धे एवं श्री प्रभात झा, राष्ट्रीय महासचिव श्री कैलाश विजयवर्गीय, सांसद एवं भाजपा प्रदेशाध्यक्ष श्री नन्दकुमार चौहान, प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत, प्रदेश मंत्रि-परिषद के सदस्य, निगम-मण्डलों के पदाधिकारी, विधायक, कार्यकर्ता और नागरिक उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान के साथ श्री अमित शाह पं. दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा के पुनर्स्थापना कार्यक्रम में शामिल हुए। श्री शाह ने व्ही.आई.पी रोड स्थित राजा भोज की प्रतिमा पर माल्यार्पण भी किया। इस अवसर पर महापौर श्री आलोक शर्मा एवं निगम अध्यक्ष श्री सुरजीत सिंह चौहान उपस्थित थे।


aaलेक्मे फैशन वीक में प्रदेश के बाग प्रिंट ने बटोरी लोकप्रियता


18 Aug 2017

बाग प्रिंट को अंतर्राष्ट्रीय ख्याति दिलाने वाले मोहम्मद यूसुफ खत्री और उनके बेटों ने एक बार फिर बाग प्रिंट को नई ऊँचाई दिलायी है। मुम्बई में चल रहे लेक्मे फैशन वीक में मोहम्मद यूसुफ खत्री और उनके पुत्रों सर्वश्री बिलाल, काज़िम और अब्दुल करीम ने जैसे ही रैम्प पर बाग परिधानों को पेश किया लोगों ने खड़े होकर तालियों से स्वागत किया। श्री बिलाल और श्री काज़िम ने परम्परागत बाग प्रिंट को दिल्ली के डिजायनर श्री विनीत राहुल की मदद से ब्रश और पटाशो से आधुनिक रूप दिया, जिसकी मौजूद सेलिब्रेटी ने काफी सराहना की। फैशन शो में मलबरी सिल्क, गज्जी सिल्क, चंदेरी और सूती वस्त्रों पर बाग प्रिंट का इस्तेमाल किया गया। इन कपड़ों से आधुनिक परिधान जैसे स्कर्ट, कुर्ता, जैकेट, वेस्टर्न जैकेट, पलाजो आदि प्रस्तुत किये गये। पूर्णत: प्राकृतिक रंगों पर आधारित संग्रह को तैयार करने के लिये श्री खत्री और उनके परिवार ने कई महीनों तक लगातार काम किया। श्री यूसुफ ने कहा कि हस्तशिल्प एवं हाथकरघा भारत की गौरवशाली विरासत है। इसका संरक्षण कारीगर समुदाय की मदद करना है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों और प्रचार से उच्च-स्तर पर भारतीय हेण्डीक्रॉफ्ट और हेण्डलूम की स्वीकार्यता बढ़ी है। कुछ साल पहले विलुप्ति की कगार पर पहुँच चुका बाग प्रिंट श्री खत्री के प्रयासों से अब देश-विदेश में लोकप्रिय होता जा रहा है।


aaसस्टेनेबल डेव्हलपमेंट लक्ष्य प्राप्त करने में युवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका


18 Aug 2017

भारत आसियान यूथ समिट के चौथे दिन आसियान देशों में पॉलिटी एण्ड गवर्नेंस, संयुक्त राष्ट्र संघ के सस्टेनेबल डेव्हलपमेंट गोल तथा आईटी कनेक्टिविटि विषय पर समूह चर्चा हुई इसके साथ ही विभिन्न देशों के प्रस्तुतीकरण तथा फिलिपिन्स, थाईलैण्ड, म्यानमार के राजदूत और सिंगापुर के हाई कमिश्नर द्वारा वाणिज्य-व्यापार गतिविधियों पर प्रस्तुतीकरण दिया गया। चौथे दिवस के प्रथम सत्र में भोपाल डिक्लेरेशन-2017 पर भी विस्तृत चर्चा हई। डिक्लेरेशन में नियमों पर आधारित विश्व समाज के सृजन, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, महिला सक्तीकरण और समानता, बेरोजगारी जैसे विषय मुख्य रूप से शामिल हैं। समूह चर्चा में प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने पॉलिटी एण्ड गवर्नेंस विषय पर अपने विचार रखे तथा प्रतिभागियों से चर्चा की। श्रीमती चिटनिस ने कहा कि यूथ समटि से आसियान देशों में समान बौद्धिक वातावरण निर्मित करने में सहायता मिली। उन्होंने कहा कि गवर्नेंस का विषय और कार्य क्षेत्र बहुत व्यापक है। कार्यपालिका के साथ-साथ स्वयंसेवी संगठन, सिविल सोसाइटी तथा अन्य अनेक घटक इसकी परिधि में शामिल है। श्रीमती चिटनिस ने आसियान देशों के प्रतिनिधियों को लाड़ली लक्ष्मी योजना, वन स्टाप सेन्टर, उदिता योजना आदि की जानकारी दी। उन्होंने प्रतिभागियों की प्रजातंत्र संस्थाओं के संचालन, शासन में सोशल मीडिया की भूमिका तथा सुशासन की दिशा में किये जा रहे प्रयासों से संबंधित प्रश्नों के उत्तर दिये। समिट में आज समूह चर्चा में भारत में यूनीसेफ की प्रतिनिधि डॉ. यासमीन अली हक ने संयुक्त राष्ट्र संघ के सस्टेनेबल डेव्हलपमेंट गोल पर विस्तार से जानकारी प्रस्तुत की। पैनल डिस्क्शन में आसियान देशों के युवा प्रतिनिधियों ने विकास के लक्ष्य को प्राप्त करने में युवाओं की भूमिका के संदर्भ में विचार रखे। साधन, सुविधाएँ, स्वास्थ्य, शिक्षा और कौशल विकास के क्षेत्र में काम करने की बात कही। युवाओं ने पर्यावरण के संरक्षण में सरकार के साथ समुदाय और व्यक्तियों की निजी क्षमताओं के साथ योगदान देने पर जोर दिया। जेण्डर असमानता को कम करने और बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने पर भी युवा प्रतिनिधियों ने विचार रखें। समिट में साफ्टवेयर टेक्नालॉजी पार्कस् ऑफ इंडिया के डायरेक्टर जनरल डॉ. ओमकार राय ने डिजिटल और आईटी कनेक्टिविटि में युवाओं की सहभागिता का उल्लेख करते हुए आसियान देशों के प्रतिनिधियों ने विचार रखें। समिट में फिलिपिन्स, सिंगापुर, थाईलैण्ड, वियतनाम के प्रतिनिधियों ने इन देशों में युवक कल्याण तथा यूथ डेव्हलपमेंट की दिशा में संचालित गतिविधियों पर प्रस्तुतीकरण दिया। प्रस्तुतीकरण के पूर्व संबंधित देशों के राष्ट्रगान प्रस्तुत किये गये। प्रस्तुतीकरण में आसियान देशों में निर्मित होते समावेशी तथा बहु सांस्कृतिक समाज के प्रति सकारात्मकता पर विस्तार से जानकारी दी गई। समिट में दोपहर बाद आसियान देशों में वाणिज्य तथा व्यापार विषय पर चर्चा हुई। सत्र में भारत में पिलिपिन्स की राजदूत टेरेसिटा सी डाज़ा, सिंगापुर के भारत में उच्चायुक्त श्री लिंम थुआन कुआन, थाईलैण्ड के भारत में राजदूत श्री शूटिनट्रार्न गाउन्गसाक्दी तथा म्यानमार के भारत में राजदूत श्री यू माउंगवाइ ने देशों के आर्थिक संबंधों तथा अगले 25 वर्ष में वाणिज्य-व्यापार के क्षेत्र में वृद्धि की संभावनाओं पर प्रस्तुतीकरण दिया। इस सत्र में आईटी तथा बीपीओ सेक्टर में वृद्धि की संभावना तथा युवाओं के लिये थ्री-ई (एजुकेशन-इम्प्लायमेंट-इंगेजमेंट) पर विस्तार से चर्चा हुई। भोपाल के होटल जहॉनुमा में विदेश मंत्रालय, मध्यप्रदेश शासन तथा इंडिया फाउण्डेशन द्वारा आयोजित समिट में भारत सहित थाईलैंण्ड, इंडोनेशिया, वियतनाम, फिलिपिन्स, मलेशिया, सिंगापुर, म्यनमार, कम्बोडिया, लाओस तथा ब्रुनेई के प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं।


aaमुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना का 20 अगस्त को शुभारंभ समारोह


17 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान और सांसद एवं भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष श्री अमित शाह 20 अगस्त को मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना में चयनित विद्यार्थियों को भोपाल में लाल परेड ग्राउण्ड में आयोजित समारोह में स्वीकृति-पत्र प्रदान करेंगे। समारोह दोपहर 12 बजे होगा। तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने आज लाल परेड ग्राउण्ड पहुँचकर समारोह की तैयारियों का जायजा लिया। श्री जोशी ने कहा कि विभिन्न जिलों से आने वाले विद्यार्थियों के ठहरने और भोजन की बेहतर व्यवस्था करें। उन्होंने सभी तैयारियाँ समय-सीमा में पूरी करने के निर्देश दिये। समारोह में विभिन्न जिलों के लगभग 15 हजार विद्यार्थी शामिल होंगे। प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा श्री संजय बंदोपाध्याय ने विद्यार्थियों के भोजन और ठहरने की व्यवस्था की जानकारी दी। इस दौरान सांसद श्री आलोक संजर भी उपस्थित थे।


aaप्रदेश के मदरसों में मनाया गया 71वाँ स्वतंत्रता दिवस


16 Aug 2017

प्रदेश के 4750 मदरसों में 71वाँ स्वतंत्रता दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। मदरसा बोर्ड के अध्यक्ष प्रो. सैयद इमादउद्दीन बुरहानपुर में स्वतंत्रता दिवस समारोह में शामिल हुए। बुरहानपुर में मदरसों के पदाधिकारी एवं बच्चों ने पदयात्रा निकाली। प्रदेश में मदरसों में दी जाने वाली शिक्षा की गुणवत्ता सुधार के लिये मध्यप्रदेश मदरसा बोर्ड मदद कर रहा है। राज्य में 4750 मदरसों में पढ़ने वाले बच्चों को आधुनिक शिक्षा दी जा रही है। इन मदरसों में करीब 2 लाख 50 हजार बच्चे अध्ययनरत हैं। इसके साथ ही करीब 20 हजार शिक्षक अध्यापन कार्य से जुड़े हुए हैं। प्रदेश में कक्षा-8 तक संचालित कर रहे मदरसों को कम्प्यूटर लैब स्थापित करने के लिये एक-एक लाख रुपये की मदद दी गयी है। इसके साथ ही विज्ञान की शिक्षा और लायब्रेरी के लिये 70-70 हजार रुपये की मदद दी गयी है। इन मदरसों को केन्द्र सरकार की 'स्कीम फॉर प्रोवाइडिंग क्वालिटी एजुकेशन इन मदरसा'' के तहत मदद दी गयी है। पिछली 2 जुलाई को मदरसा बोर्ड के आव्हान पर अनुदान प्राप्त मदरसों के परिसर में व्यापक रूप से वृक्षारोपण भी किया गया। बोर्ड के अध्यक्ष ने स्वतंत्रता दिवस पर देशभक्ति से ओत-प्रोत कार्यक्रम करने और बच्चों में देशभक्ति की भावना को मजबूत करने के लिये मदरसा पदाधिकारियों का आभार भी व्यक्त किया है।


aaएशियनिज्म की पुनर्स्थापना इंडिया-आसियान समिट की मुख्य सफलता


16 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने श्री कृष्ण जन्माष्टमी के पावन अवसर पर प्रदेशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं दी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अपने शुभकामना संदेश में कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने श्रीमद् भगवद् गीता के माध्यम से कर्मयोग की शिक्षा दी। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण का जीवन भक्ति-ज्ञान और कर्म के मार्ग पर चलने की प्रेरणा देता है। श्री चौहान ने नागरिकों से भगवान श्रीकृष्ण के आदर्शों पर चलने का आव्हान करते हुए कहा कि भक्ति, कर्म और ज्ञान मार्ग से ही प्रदेश के नव-निर्माण का मार्ग प्रशस्त होगा।


aaमहिला सशक्तिकरण की प्रतीक हैं सुश्री मिताली राज : मुख्यमंत्री श्री चौहान


16 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आसियान युवा सम्मेलन में आये विभिन्न देशों के प्रतिभागी युवाओं से आत्मीय संवाद करते हुये आव्हान किया कि वे उत्साह से भरे रहें। अपने देश और विश्व के लिये बड़ा सोचें और उत्कृष्ट से उत्कृष्ट काम करने के लिये स्वयं को तैयार करते रहें। उन्होने आज अपने निवास पर सम्मेलन के प्रतिभागी युवाओं को भोजन पर आमंत्रित किया था। श्री चौहान ने उनसे आग्रह किया कि वे बार-बार मध्यप्रदेश आये ताकि वे पूरा मध्यप्रदेश घूम सकें। श्री चौहान ने युवाओं से दिल की बात की और कई संस्मरण साझा किये। उन्होने बताया कि कैसे उनके राजनैतिक जीवन की शुरूआत हुई और कैसे 13 साल की कच्ची उम्र में किसानों के शोषण के विरूद्ध आंदोलन किया था और 17 साल की उम्र में नौ माह के लिये जेल भी गये। उन्होंने बताया कि शोषण और अत्याचार के खिलाफ उन्होंने 45 दिन की पदयात्रा की थी। श्री चौहान ने कहा कि यदि संकल्प, प्रतिबद्धता और कड़ी मेहनत हो तो कोई काम असंभव नही है। श्री चौहान ने इस अवसर पर कार्यक्रम की प्रमुख आकर्षण भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान सुश्री मिताली राज का अभिनंदन किया। उन्होंने कहा कि सुश्री मिताली महिला सशक्तिकरण की प्रतीक हैं। राज्य सरकार पूरी टीम का नागरिक अभिनंदन करेगी। उन्होंने कहा कि भारतीय महिला क्रिकेट टीम की उपलब्धियों के साथ महिला क्रिकेट को नई ऊँचाईयाँ मिली हैं। सुश्री मिताली राज ने युवाओं को संबोधित करते हुये अपने अनुभव साझा किये उन्होंने कहा कि अब से कुछ साल पहले तक महिलाओं के लिये क्रिकेट खेलना अच्छा नहीं माना जाता था। आज समाज में इसे स्वीकार किया गया है। महिला क्रिकेट को एक नया मंच मिला है। उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रत्येक उपलब्धि के साथ अपेक्षायें भी बढ़ती हैं। उन्होंने कहा कि समालोचना से कमियाँ दूर होती हैं और आगे बढ़ने के रास्ते बनते हैं। उन्होंने कहा कि चुनौतियों का विश्लेषण करना और उनसे निपटने की बेहतर से बेहतर रणनीतियाँ तैयार करना सबसे जरूरी है। इसके बाद कड़ी मेहनत करने की बारी आती है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विभिन्न देशों के युवाओं से आत्मीय चर्चा की और मध्यप्रदेश एवं भारत की विशेषताओं की जानकारी दी। सभी प्रतिभागी युवा अपने–अपने देशों की पारंपरिक वेशभूषा में उपस्थित थे। इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया, नगरीय विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह, इंडिया फाउन्डेशन के श्री आलोक बंसल एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।


aaपुलिस की पहचान को निखारने में सदैव तत्पर रहें अधिकारी


16 Aug 2017

राज्यपाल श्री ओम प्रकाश कोहली से 71वें स्वाधीनता दिवस समारोह में राष्ट्रपति पदक से सम्मानित पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने आज राजभवन में भेंट की। इस अवसर पर पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला, राज्यपाल के प्रमुख सचिव डॉ.एम मोहन राव तथा पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। पुलिस महानिदेशक ने सम्मानित पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों से राज्यपाल का परिचय कराया। राज्यपाल श्री कोहली ने सम्मानित अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई देते हुए कहा कि आपने जो पहचान स्थापित की है, इसे और अधिक निखारने की दिशा में सदैव तत्पर रहें। पुलिस अधिकारियों-कर्मचारियों के लिये आमजनों की सेवा और मदद सबसे पहली प्राथमिकता होना चाहिये तथा हमेशा इसी भावना के साथ अपने कर्त्तव्य का पालन सुनिश्चित करना चाहिये। उन्होंने कहा कि राष्ट्रद्रोही ताकतों का पूरी कठोरता के साथ दमन करें। साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि कभी किसी निर्दोष के साथ अन्याय न हो और आमजन सुरक्षित महसूस करें। राज्यपाल श्री कोहली ने कहा कि पुलिस को कानून-व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिये निरंतर प्रयास करते रहना चाहिये। साथ ही, जनता से परस्पर समन्वय भी बनाये रखना चाहिये। पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला ने इस अवसर पर बताया कि मुख्यमंत्री पुलिस आवास योजना में 5 चरणों में पुलिस की सभी इकाइयों में 25 हजार आवासों का निर्माण किया जा रहा है। पुलिस विभाग में चरणबद्ध बल वृद्धि के परिप्रेक्ष्य में वर्ष-2010 से अभी तक 37 हजार 885 पद मंजूर हुए हैं। कुल 82 नये थाने, 133 नई चौकियाँ और 13 पर्यटन चौकियाँ भी स्थापित की गयी हैं। प्रदेश में त्वरित पुलिस सहायता देने के उद्देश्य से डॉयल-100 के जरिये 29 लाख से अधिक जरूरतमंदों को सहायता उपलब्ध करवायी गयी है। इस योजना को राष्ट्रीय-स्तर पर फिक्की स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड-2017 तथा हेक्जागन आईकॉन अवार्ड-2016 से पुरस्कृत किया जा चुका है।


aaमध्यप्रदेश में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया 71वाँ स्वतंत्रता दिवस


16 Aug 2017

मध्यप्रदेश में 71वाँ स्वतंत्रता दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। भोपाल में लाल परेड ग्राउंड पर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया। जिला मुख्यालयों पर मंत्री परिषद के सदस्यों ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया और आकर्षक परेड की सलामी ली। स्वतंत्रता दिवस पर देश की आजादी के लिये संघर्ष करने वाले स्वतंत्रता सेनानियों को शॉल एवं श्रीफल भेंट कर सम्मानित किया गया। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा ने होशंगाबाद में स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्र ध्वज फहराया। उन्होंने मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन किया एवं परेड की सलामी ली। उन्होंने उत्कृष्ट सेवा करने वाले अधिकारियों को प्रमाण-पत्र देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर स्कूल के बच्चों ने आकर्षक सांस्कृतिक प्रस्तुति दी। विभिन्न विद्यालयों के 800 विद्यार्थियों ने मनोहारी व्यायाम प्रदर्शन किया। श्री शर्मा ने नर्मदा सेवा यात्रा में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने पर अधिकारियों तथा कर्मचारियों को सम्मानित किया। मध्यप्रदेश विधानसभा उपाध्यक्ष डॉ. राजेन्द्र कुमार सिंह ने सतना में ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली। उन्होंने स्वतंत्रता सेनानियों का शाल-श्रीफल भेंट कर सम्मान किया। श्री सिंह ने शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, सिंधी कैम्प में विद्यार्थियों के साथ मध्यान्ह भोजन किया। उन्होंने जिला अस्पताल पहुँचकर मेटरनिटी वार्ड में महिला रोगियों को फल वितरित किये। जनसंपर्क, जल-संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री श्री नरोत्तम मिश्र ने दतिया जिला मुख्यालय में पुलिस ग्राउंड पर ध्वजा रोहण कर परेड की सलामी ली। उन्होंने मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन किया। स्कूल शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह ने खण्डवा में स्वतंत्रता दिवस के मुख्य समारोह में राष्ट्रीय ध्वज फहराया। उन्होंने मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन किया तथा आकर्षक परेड की सलामी ली। उन्होंने इस दौरान रंग-बिरंगे गुब्बारे आसमान में छोड़े। इस अवसर पर सराहनीय काम करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों को पुरस्कृत एवं सम्मानित किया गया। स्वतंत्रता दिवस पर किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री गौरी शंकर बिसेन ने छिन्दवाड़ा में ध्वजारोहण किया एवं परेड की सलामी ली। श्री बिसेन ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्री रूपचंद राय तथा शहीद श्री अमित ठेंगे के पिताश्री श्री मधुकर राव ठेंगे एवं माता श्रीमती लता ठेंगे और शहीद सैनिक श्री लालमन की विधवा पत्नी श्रीमती ललती बाई को शॉल एवं श्रीफल भेंट कर सम्मानित किया। श्री बिसेन ने समारोह में भू-अभिलेख के अंतर्गत हितग्राहियों को खसरा-खतौनी की नि:शुल्क नकल वितरित की। श्री बिसेन ने पुलिस परेड ग्राउण्ड परिसर में पौध-रोपण किया। नर्मदा घाटी विकास राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने भिण्ड में स्वतंत्रता दिवस के मुख्य समारोह में राष्ट्र ध्वज फहराया और परेड की सलामी ली। उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों एवं शहीद सैनिकों के परिजनों को शाल एवं श्रीफल भेंट कर सम्मानित किया। श्री आर्य ने अपनी ओर से सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति देने वाले सभी विद्यालयों के छात्र-छात्राओं को 11-11 हजार रुपये का पुरस्कार प्रदान किया। इसी प्रकार मंत्री स्वेच्छानुदान से 17 व्यक्तियों को सवा लाख रुपये के चैक प्रदान किये। श्री आर्य ने उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों को प्रमाण-पत्र प्रदान किये। वन, योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग डॉ. गौरी शंकर शेजवार ने सीहोर जिला मुख्यालय के पुलिस परेड ग्राउंड में स्वतंत्रता दिवस के मुख्य समारोह में ध्वजारोहण किया। मुख्यमंत्री के संदेश के वाचन के बाद परेड की सलामी ली। आकर्षक मार्च-पास्ट के बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम भी हुए। सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी, राहत तथा पुनर्वास (स्वतंत्र प्रभार), पंचायत एवं ग्रामीण विकास राज्य मंत्र श्री विश्वास सारंग ने राजगढ़ में स्वतंत्रता दिवस पर झण्डा फहराया एवं मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन किया। लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह ने रायसेन में स्वतंत्रता दिवस समारोह में तिरंगा फहराया और मुख्यमंत्री के प्रदेश की जनता के नाम संदेश का वाचन किया। उन्होंने उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारियों को प्रमाण-पत्र दिये। श्री सिंह वनखेड़ी में आयोजित मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम में शामिल हुए। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण आयुष मंत्री श्री रूस्तम सिंह ने मुरैना में स्वतंत्रता दिवस के मुख्य समारोह में ध्वजारोहण किया। उन्होंने मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन किया और परेड की सलामी ली। उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री श्री सूर्य प्रकाश मीणा ने विदिशा में स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया और परेड की सलामी ली और स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्री रघुवीर चरण शर्मा का शॉल-श्रीफल से सम्मान किया। तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास, श्रम, स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री दीपक जोशी ने देवास में स्वतंत्रता दिवस के मुख्य समारोह में राष्ट्रीय ध्वज फहराया और मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन किया। उन्होंने संयुक्त परेड की सलामी ली। पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण, धुमक्कड़ एवं अर्द्धघुमक्कड़ कल्याण तथा महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री श्रीमती ललिता यादव ने छतरपुर में राष्ट्र ध्वज फहरा कर परेड की सलामी ली। गृह एवं परिवहन मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने जबलपुर में स्वतंत्रता दिवस समारोह में राष्ट्रीय ध्वज फहराया एवं परेड की सलामी ली। श्री सिंह ने नर्मदा सेवा यात्रा, वृक्षारोपण कार्यक्रम, विभिन्न क्षेत्रों में जिले को गौरवान्वित करने वाले शासकीय एवं अशासकीय क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों एवं संस्थाओं को सम्मानित किया। ग्वालियर में उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली और मुख्यमंत्री के प्रदेश की जनता के नाम संदेश का वाचन किया। बीएसएफ एवं एसएएफ के बैण्ड की मधुर धुन के साथ निकली संयुक्त परेड सभी के लिये आकर्षण का केन्द्र रही। वाणिज्य, उद्योग और रोजगार विभाग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने रीवा में स्वतंत्रता दिवस समारोह में ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली। इस अवसर पर स्कूल के बच्चों द्वारा रंगारंग प्रस्तुति दी गई। वित्त एवं वाणिज्य कर मंत्री जयंत मलैया ने दमोह में स्वतंत्रता दिवस समारोह में तिरंगा लहराया एवं परेड की सलामी ली। पंचायत एवं ग्रामीण विकास, सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने सागर में पीटीसी ग्राउंड में राष्ट्रीय ध्वज फहराया एवं परेड की सलामी ली। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, जेल मंत्री सुश्री कुसुम महदेले ने पन्ना में स्वतंत्रता दिवस समारोह में राष्ट्रीय ध्वज फहराकर परेड की सलामी ली। खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण, श्रम मंत्री श्री ओम प्रकाश धुर्वे ने उमरिया में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर तिरंगा फहराया एवं संयुक्त परेड की सलामी ली। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने सीधी में स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया एवं स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को शाल एवं श्रीफल भेंट कर सम्मानित किया। महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने बुरहानपुर में स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया एवं परेड की सलामी ली। युवा खेल एवं कल्याण, धार्मिक न्यास और धर्मस्व मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने शिवपुरी में स्वतंत्रता दिवस पर झण्डा फहराकर परेड की सलामी ली एवं स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को शाल एवं श्रीफल भेंट कर सम्मानित किया। ऊर्जा नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन ने उज्जैन में स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया एवं परेड की सलामी ली। पशुपालन, मछुआ कल्याण एवं मत्स्य विकास, कुटीर एवं ग्रामोद्योग, पर्यावरण मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य ने बड़वानी में स्वतंत्रता दिवस समारोह में तिरंगा फहराया एवं संयुक्त परेड की सलामी ली। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने इंदौर में स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय ध्वज फहराकर परेड की सलामी ली। चिकित्सा शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), लोक स्वास्थ और परिवार कल्याण, संसदीय कार्य राज्य मंत्री श्री शरद जैन ने सिवनी में स्वतंत्रता दिवस समारोह में राष्ट्रीय ध्वज फहराया एवं मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन किया। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (स्वतंत्र प्रभार) उच्च शिक्षा, सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण राज्य मंत्री श्री संजय पाठक ने कटनी में स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय ध्वज फहराकर मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन किया। उन्होंने शाल एवं श्रीफल भेंट कर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को सम्मानित किया। शेष सभी जिलों में जिला कलेक्टर्स ने स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया एवं संयुक्त परेड की सलामी ली।


aaमहिला अपराधों के मामले में कड़ी सजा दिलाने के लिये कानून में परिवर्तन किया जायेगा


15 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महिला अपराधों के मामलों में कड़ी सजा दिलाने के लिये कानून में परिवर्तन किया जायेगा। महिला अपराधों के लिये बहुत संवेदनशीलता से कार्रवाई की जाये। ऐसे प्रकरणों में अपराधियों को सख्त सजा दिलायी जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहां मुख्यमंत्री निवास पर उत्कृष्ट सेवा के लिये सम्मानित पुलिस अधिकारी-कर्मचारियों को संबोधित कर रहे थे। उल्लेखनीय है कि श्री चौहान हर वर्ष पदक विजेता पुलिस कर्मियों को परिवार सहित अपने निवास पर आमंत्रित करते हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पुलिस का कोई भी जवान शहीद होगा तो उसके परिवार को एक करोड़ रुपये सम्मान निधि दी जायेगी। राज्य सरकार हर परिस्थिति में आपके खड़ी है। मध्यप्रदेश पुलिस की उपलब्धियां गर्व करने योग्य हैं। पुलिस के कारण प्रदेश की जनता चैन की नींद सोती है और मध्यप्रदेश शांति का टापू माना जाता है। प्रदेश पुलिस की उपलब्धियों की चर्चा करते हुये उन्होंने कहा कि डकैत समस्या, आतंकी समस्या और सिमी के नेटवर्क को समाप्त करने का कार्य प्रदेश की पुलिस ने किया है। चिन्हित अपराधों के मामले में शीघ्र और कड़ी सजा दिलवाने की सफलता प्राप्त की है। गुंडों और असामाजिक तत्वों के खिलाफ इन्दौर में चलाये गये अभियान की प्रशंसा करते हुये कहा कि इस तरह के अभियान से अपराधियों में भय का वातावरण बनता है। डायल-100 का उल्लेख करते हुये कहा कि इससे घटना स्थल पर पुलिस बहुत कम समय में पहुंच रही है। प्रदेश में पुलिस बल की लगातार वृद्धि की जा रही है। पुलिस कर्मियों के लिये आवासों का निर्माण का कार्य जारी है। पुलिस कर्मियों के परिवारों के कल्याण में कोई कमी नहीं आने दी जायेगी। पुलिस कर्मियों के मेधावी बच्चों की पढ़ाई में मदद की जायेगी। कार्यक्रम में पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला ने कहा कि प्रदेश में पुलिस बल में वृद्धि और तकनीकी उन्नयन के प्रयास तेजी से चल रहे हैं। हमारे नवाचार डायल-100 को देश की 17 राज्यों ने अपनाया है। पुलिस कर्मियों के लिये 25 हजार आवास स्वीकृत किये गये हैं। प्रदेश पुलिस देश के सर्वश्रेष्ठ पुलिस बलों में मानी जाती है। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सतना जिले के कुख्यात डकैत ललित पटेल और उसके गिरोह को समाप्त करने के लिये सतना पुलिस अधीक्षक श्री राजेश हिंगनकर और पुलिस निरीक्षक श्री अनिमेष द्विवेदी को सम्मानित किया। लास एंजिल्स में आयोजित वर्ल्ड पुलिस गेम्स में 85 किलोग्राम वर्ग में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले श्री शत्रुघन यादव का सम्मान किया। साथ ही विशेष शाखा में उल्लेखनीय कार्य करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों को पुरस्कृत किया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री की पत्नी श्रीमती साधना सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधिकारी विशेष पुलिस महानिदेशक श्री वी.के. सिंह, श्री संजय चौधरी और श्री मैथलीशरण गुप्त, अपर पुलिस महानिदेशक श्री राजीव टंडन और श्री के.एन. तिवारी भी उपस्थित थे।


aaपूर्व राष्ट्रपति डॉ. शंकर दयाल शर्मा अदभुत व्यक्तित्व के धनी थे : मुख्यमंत्री श्री चौहान


15 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा कुशल प्रशासक, विशाल हृदय वाले विद्वान और अद्भुत व्यक्तित्व के धनी थे। उन्होंने देश की आजादी की लड़ाई और भोपाल राज्य के विलीनीकरण आंदोलन में अग्रणी भूमिका निभाई। देश के विकास और जन-कल्याण में उनकी भूमिका सदैव प्रेरणादायी रहेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहां भोपाल के रेत घाट तिराहे में पूर्व राष्ट्रपति शंकरदयाल शर्मा की प्रतिमा के अनावरण समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री सुरेश पचौरी, सांसद श्री आलोक संजर, महापौर श्री आलोक शर्मा, विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, श्री पी.सी. शर्मा, मो. सगीर एवं अन्य जन-प्रतिनिधि तथा डॉ. शर्मा के सुपुत्र श्री आशुतोष दयाल और उनके अन्य परिजन उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पूर्व राष्ट्रपति डॉ. शर्मा के व्यक्तित्व और कृतित्व को याद करते हुये कहा कि वे केवल भोपाल के ही नहीं बल्कि पूरे देश के गौरव सपूत थे। उनका सम्मान करना हमारा कर्तव्य है। उनके पद-चिन्हों पर चलने का हम प्रयास करेंगे। श्री चौहान ने कहा कि भोपाल को प्रदेश की राजधानी बनवाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका थी। उन्होंने भोपाल के विकास की आधारशिला रखी। श्री चौहान ने पूर्व राष्ट्रपति डॉ. शर्मा की प्रतिमा का अनावरण कर श्रद्धा-सुमन अर्पित किये। पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री सुरेश पचौरी ने कहा कि भोपाल में अनेक शैक्षणिक संस्थाएं लाने और शहर के विकास में डॉ. शर्मा का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने विभिन्न पदों पर शालीनता, ईमानदारी और विनम्रता से काम किया। उनका पूरा जीवन निष्कलंक है। इस मौके पर महापौर श्री आलोक शर्मा ने भी पूर्व राष्ट्रपति डॉ. शर्मा के कार्यों को याद करते हुये कहा कि भारत छोड़ो आंदोलन में उनकी महती भूमिका थी। उन्होंने कहा कि शहर के यातायात को व्यवस्थित करने के लिये विभिन्न चौराहों की रोटरी हटाने का निर्णय लिया गया था। इसलिये पूर्व राष्ट्रपति डॉ. शर्मा की प्रतिमा भी उनके परिजनों से चर्चा कर दूसरी जगह प्रतिस्थापित की गई है। इस स्थान को सुंदर उद्यान के रूप में विकसित किया जायेगा। अंत में नगर-निगम के अध्यक्ष डॉ. सुरजीत सिंह चौहान ने आभार व्यक्त किया।


aaआयुक्त श्री अनुपम राजन ने जनसंपर्क संचालनालय में ध्वजारोहण किया


15 Aug 2017

जनसम्पर्क आयुक्त श्री अनुपम राजन ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर जनसंपर्क संचालनालय में राष्ट्रीय ध्वज फहराया। श्री राजन ने अधिकारी-कर्मचारियों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई भी दी। इस अवसर पर राष्ट्रगान के साथ ही मिष्ठान वितरण भी किया गया। श्री राजन ने मध्यप्रदेश पर्यावरण नियोजन एवं समन्वय संगठन (एप्को) और राज्य पुरातत्व अभिलेखागार एवं संग्रहालय में भी ध्वजारोहण किया।


aaजनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया में किया ध्वजारोहण


15 Aug 2017

स्वतंत्रता दिवस पर जनसंपर्क, जल-संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया जिला मुख्यालय में पुलिस ग्राउण्ड पर ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली। मंत्री डॉ. मिश्र मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के संदेश का वाचन किया। समारोह में कारगिल युद्ध में शहीद हुए जवानों के परिजन को सम्मानित किया गया। इस मौके पर विद्यार्थियों ने रंगारंग सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दीं। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने समारोह में सर्वप्रथम राष्ट्रीय ध्वज फहराया। उन्होंने संयुक्त परेड का निरीक्षण किया। शांति के प्रतीक गुब्बारे उड़ाने के साथ ही हर्ष फायर किया गया। समारोह में दतिया जिले में उत्कृष्ट कार्य करने वाले करीब 150 अधिकारी-कर्मचारी सम्मानित किए गए। समारोह में श्रेष्ठ परेड प्रदर्शन के लिए विशेष सशस्त्र बल की 29वीं वाहिनी को प्रथम पुरस्कार प्रदान किया गया। मंत्री डॉ. मिश्र ने युद्ध में शहीद दो जवान की धर्मपत्नी श्रीमती सोमवती वर्मा और श्रीमती प्रभा मिश्रा के साथ ही 10 लोकतंत्र रक्षक सेनानी (मीसाबंदी) का सम्मान भी किया। इस अवसर पर सांसद डॉ. भागीरथ प्रसाद, गणमान्य नागरिक और आमजन उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने दी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनाएँ


14 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने श्री कृष्ण जन्माष्टमी के पावन अवसर पर प्रदेशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं दी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अपने शुभकामना संदेश में कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने श्रीमद् भगवद् गीता के माध्यम से कर्मयोग की शिक्षा दी। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण का जीवन भक्ति-ज्ञान और कर्म के मार्ग पर चलने की प्रेरणा देता है। श्री चौहान ने नागरिकों से भगवान श्रीकृष्ण के आदर्शों पर चलने का आव्हान करते हुए कहा कि भक्ति, कर्म और ज्ञान मार्ग से ही प्रदेश के नव-निर्माण का मार्ग प्रशस्त होगा।


aaमुख्य सचिव श्री सिंह की अध्यक्षता में mp.mygov डिजिटल प्लेटफार्म की बैठक संपन्न


14 Aug 2017

मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह की अध्यक्षता में mp.mygov डिजिटल प्लेटफार्म के संबंध में बैठक आयोजित की गयी। बैठक में मुख्य सचिव श्री सिंह ने कहा कि सरकार और प्रशासन में नागरिकों की सक्रिय भागीदारी के लिए यह एक उपयोगी प्लेटफार्म साबित होगा। सभी विभाग इसके लिए नोडल अधिकारी नियुक्त करें। विभाग अपने यहां चलने वाले अभियान में इस प्लेटफार्म का उपयोग कर वालंटियर्स तैयार कर सकते हैं। ई-नगरपालिका, मिल-वांचे मध्यप्रदेश, मेधावी छात्रवृत्ति, आजीविका मिशन के लिए यह प्लेटफार्म उपयोगी हो सकेगा । सचिव लोक सेवा प्रबंधन श्री हरिरंजन राव ने कहा कि भारत सरकार के mygov पोर्टल की लोकप्रियता एवं उसमें नागरिकों की भागीदारी को देखते हुए मध्यप्रदेश में भी इसी प्रकार का प्लेटफार्म विकसित किया जा रहा है । सभी विभाग इसके लिए अपने यहां तकनीकी टीम बनायें । बैठक में अपर मुख्य सचिव गृह श्री के. के. सिंह , अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री आर.एस. जुलानिया, अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन श्री प्रभांशु कमल ,प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर श्री मनोज श्रीवास्तव एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे ।


aaन्यूट्रीशन सेंसिटिव एग्रीकल्चर पर भोपाल में होगी अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी


14 Aug 2017

महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा है कि भोपाल में न्यूट्रीशन सेंसिटिव एग्रीकल्चर पर दो-दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया जायेगा। उन्होंने कहा कि पोषण साक्षरता ओर खेती में न्यूट्रीशन सेंसिटिव के विस्तार से समाज के सभी वर्गों में बेहतर स्वास्थ्य सुनिश्चित किया जा सकता है। इस दिशा में हो रहे प्रयास पर विचार-विमर्श के लिये मार्च-2018 में दो-दिवसीय संगोष्ठी भोपाल में आयोजित की जायेगी। मंत्रालय में सम्पन्न बैठक में श्रीमती चिटनिस ने बताया कि संगोष्ठी में कृषि, पर्यावरण, पोषण, स्वास्थ्य और संचार विशेषज्ञ सम्मिलित होंगे। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित इस संगोष्ठी में यूनीसेफ, इन्टरनेशनल फण्ड फॉर एग्रीकल्चर डेव्हलपमेंट, नाबार्ड तथा इंडियन काउंसिल फॉर एग्रीकल्चर डेव्हलपमेंट सहित कृषि, उद्यानिकी, पशुपालन, मत्स्य-पालन, स्वास्थ्य विभाग सम्मिलित होंगे। संगोष्ठी के संबंध में आयोजित इस बैठक में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त पर्यावरणविद् डॉ. वन्दना शिवा, कृषि उत्पादन आयुक्त श्री पी.सी. मीना, प्रमुख सचिव महिला-बाल विकास श्री जे.एन. कंसोटिया सहित अन्य अधिकारी तथा विभिन्न संस्थाओं के प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaवित्त मंत्री श्री मलैया ने की मिशन ग्रीन दमोह की शुरूआत


13 Aug 2017

वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया ने दमोह में मिशन ग्रीन दमोह-2 का शुभारंभ करते हुए कहा कि वृक्षारोपण कार्यक्रम नहीं अपितु सामाजिक अभियान है। युवा वर्ग को इस अभियान में बढ़-चढ़कर भागीदारी सुनिश्चित करना चाहिये। श्री मलैया ने आशा व्यक्त की कि मिशन ग्रीन दमोह कार्यक्रम से आने वाले समय में प्रदेश में दमोह की पहचान सर्वाधिक हरे-भरे शहरों के रूप में होगी। जिला पंचायत अध्यक्ष श्री शिवचरण पटेल ने कहा कि मिशन ग्रीन दमोह में मंदिर और मस्जिद परिसर में समान रूप से वृक्षारोपण किया गया है। कलेक्टर दमोह डॉ. श्रीनिवास शर्मा ने कहा कि मिशन ग्रीन दमोह में समाज के सभी धर्म के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया है। यह कार्य सामाजिक सदभाव की एक मिसाल बन गया है। लव-कुश जयंती समारोह में श्री मलैया श्री मलैया ने आज दमोह में भगवान लव-कुश जयंती समारोह में कहा कि प्रदेश में प्रतिभाशाली बच्चों की पढ़ाई में धन की कमी नहीं आने दी जायेगी। प्रतिष्ठित उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रदेश के बच्चों की फीस राज्य सरकार द्वारा भरी जायेगी। इसके लिये कोष भी तैयार किया गया है। उन्होंने कुशवाहा समाज में बालिका शिक्षा को और अधिक बढ़ाने पर जोर दिया। वित्त मंत्री श्री मलैया ने कुशवाहा समाज का मंगल भवन बनाने के लिये 5 लाख रुपये दिये जाने की भी घोषणा की। समारोह में विधायक श्री लखन पटेल भी मौजूद थे।


aaराज्य में शत-प्रतिशत कृषि क्षेत्र सिंचित करने का लक्ष्य - डॉ.मिश्र


13 Aug 2017

जनसंपर्क, जल-संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कहा कि किसानों के लिए सिंचाई की विशेष परियोजनाएं शुरू की जा रही हैं। प्रदेश में सिंचाई का रकबा 7.50 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 40 लाख हेक्टेयर हो गया है। प्रदेश के शत-प्रतिशत कृषि क्षेत्र को सिंचित करना राज्य सरकार का लक्ष्य है। डॉ. मिश्र आज दतिया में बलराम जंयती के अवसर पर किसान सम्मान समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर जनसंपर्क मंत्री ने 51 किसानों को शॉल-श्रीफल भेंटकर सम्मानित किया। डॉ. मिश्र ने कहा कि प्रदेश में कृषि केबीनेट का गठन, पृथक से कृषि बजट की व्यवस्था, जीरो प्रतिशत से भी कम ब्याज पर कर्ज की पुख्ता व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान किसान के बेटे हैं और वह किसानों की तरक्की के लिए समर्पित हैं। इस अवसर पर किसान नेता श्री वीरेन्द्र सिंह राणा तथा श्री रंजीत सिंह राणा ने भी अपने विचार भी व्यक्त किए। बीड़ी श्रमिकों की समस्याओं का शीघ्र होगा समाधान डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया जिले के बड़ौनी में बीड़ी श्रमिकों के सम्मेलन में जिला प्रशासन को निर्देश दिए कि तहसील एवं नगर पंचायत बड़ौनी में बीड़ी श्रमिकों की समस्याओं के शीध्र समाधान के के लिए शिविर लगाएं। शहरी क्षेत्र में रहने वाले बीड़ी श्रमिकों को भी योजनाओं का लाभ मिलना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि बड़ौनी क्षेत्र में पंजीकृत 620 बीड़ी श्रमिकों को प्राथमिकता अनुसार लाभान्वित किया जाए। अपंजीकृत पात्र बीड़ी श्रमिक को भी पंजीकृत कर योजनाओं से अवगत करवाएं और आवश्यक सुविधाएं मुहैया करवाएं। दतिया कलेक्टर श्री मदन कुमार ने इस अवसर पर बताया कि दतिया जिले में सामाजिक न्याय योजनाओं के तहत श्रमिकों के कल्याण के लिए रत्ननंदिता अभियान चलाया जा रहा है। कार्यक्रम में विक्रम सिंह बुन्देला के साथ ही अनेक जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaराज्य मंत्री श्री सारंग द्वारा कैलाश नगर में विकास कार्यों का भूमि-पूजन


13 Aug 2017

सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी, राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने आज कैलाश नगर वार्ड-58 में विकास कार्यों का भूमि-पूजन किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि कैलाश नगर (भारतीय निकेतन) के दोनों पार्कों के विकास कार्यों और एक सड़क के निर्माण कार्य को जल्दी पूरा किया जायेगा। स्थानीय पार्षद श्रीमती गीता तोमर, एल्डरमेन श्री सूर्यकांत गुप्ता, श्रीमती मालती राय, श्री अशोक वाणी और स्थानीय नागरिक इस अवसर पर उपस्थित थे


aaभोपाल में 14 से 19 अगस्त तक इंडिया-आसियान यूथ समिट


12 Aug 2017

मध्यप्रदेश सरकार, विदेश मंत्रालय और इंडिया फाउण्डेशन द्वारा भोपाल में 14 से 19 अगस्त तक इंडिया आसियान यूथ समिट का आयोजन होगा। समिट का शुभारंभ मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान और विदेश राज्य मंत्री जनरल व्ही.के. सिंह करेंगे। यह जानकारी जनसम्पर्क एवं जल संसाधन मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज यहाँ दी। उन्होंने बताया कि शुभारंभ कार्यक्रम में केन्द्रीय युवा कार्यक्रम और खेल राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विजय गोयल भी उपस्थित रहेंगे। पहले दिन फिल्म अभिनेता श्री अनुपम खेर का व्याख्यान होगा। डॉ. मिश्र ने बताया कि मध्यप्रदेश को इस आयोजन के लिये इसलिये चुना गया है कि यहाँ साँची का स्तूप आसियान देशों से सांस्कृतिक सम्बद्धता को प्रगाढ़ करता है। आयोजन मध्यप्रदेश में सुशासन पर हुए कार्य को विश्व पटल पर एक झाँकी के रूप में प्रस्तुत करने का प्रयास है। मध्यप्रदेश पर्यटन को विश्व पटल पर प्रस्तुत करने का अभिनव प्रयास भी होगा। उन्होंने बताया कि यह आयोजन सालभर के दौरान भारत में हुए प्रमुख आयोजनों में से एक होगा। भारत में 25 साल के भारत-आसियान संवाद साझेदारी के 15 साल भी हो रहे है। संयोग से आसियान की स्थापना की 50वीं वर्षगांठ भी है। आसियान क्षेत्र के साथ भारत के सभ्यतागत संबंध सदियों पुराने हैं। इस आयोजन से नये सिरे से इन संबंधों की पड़ताल हो सकेगी। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की 'एक्ट ईस्ट पॉलिसी' को देखते हुए इसका महत्व और भी बढ़ जाता है। डॉ. मिश्र के अनुसार समिट अर्थात शिखर सम्मेलन में 35 साल से कम आयु के युवा नेताओं के 175 से अधिक प्रतिनिधि-मण्डल शामिल होंगे। इनमें सत्तारूढ़ और विपक्षी राजनीतिक दलों, थिंक टैंक, मीडिया, व्यवसाय, नौकरशाही और कला/संस्कृति क्षेत्र की भागीदारी भी रहेगी। कंबोडिया और वियतनाम का संसदीय प्रतिनिधि-मंडल भी समिट में शामिल होगा। महत्वपूर्ण पक्ष यह है कि प्रतिनिधियों में आधी संख्या नारी शक्ति की होगी। आसियान देश समिट को अपनी सांस्कृतिक विरासत और सभ्यता के प्रतीक आयोजन के रूप में देख रहे हैं। उन्होंने बताया कि सम्मेलन युवा और आसियान नेताओं के प्राचीन और समकालीन, तेजी से विकासशील भारत और आसियान क्षेत्र के साथ संबंधों की बेहतर समझ को बढ़ाने की भावना पर आधारित रहेगा। आसियान-भारत के संबंधों के लिये 'मूल्य' और स्वामित्व की भावना को विकसित करने के लिये एक मंच भी बनेगा। इससे सुरक्षा और आर्थिक दोनों मुद्दों पर व्यापक क्षेत्रीय भागीदारी के लिये एक साझा दृष्टिकोण तैयार करने में मदद मिलेगी। यह समिट युवा नेताओं के बीच विचारों और अनुभवों की नेटवर्किंग एवं उन्हें साझा करने का एक मंच भी साबित होगा। डॉ. नरोत्तम मिश्र ने बताया कि समिट के समापन सत्र की मुख्य अतिथि विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज होंगी। समापन कार्यक्रम की अध्यक्षता राज्यपाल श्री ओ.पी. कोहली करेंगे। समिट में भाग लेने वाले प्रमुख व्यक्तियों में सांसद सर्वश्री सुभाष चंद्रा, बैजयंती जय पांडा, संदीप संगमा, श्रीमती पूनम महाजन, भारत स्थित फिलीपिंस के राजदूत श्री टेरेसिटा सी. दजा., सिंगापुर के उच्चायुक्त श्री लिम थुआन कुआन, थाईलैंड के राजदूत श्री चटिंटन गोंगसाकड़ी, म्यांमार के राजदूत माउंग वाई, संयुक्त राष्ट्र समन्वयक यूरी अफानाइव, मध्यप्रदेश की महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस, भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान सुश्री मिताली राज, संयुक्त राष्ट्र युवा दूत अमेरिका सुश्री जयथमा विकरामनायके, अभिनेता श्री अनुपम खेर, गवर्नेंस स्टडीज कार्यक्रम के वरिष्ठ फेलो, ब्रुकिंग्स इंडिया, नई दिल्ली डॉ. शामिका रवि, विदेश नीति अध्ययन फेलो श्री ध्रुव जयशंकर, आसियान-भारत के समन्वयक डॉ. प्रभाकर डी., नालंदा विश्वविद्यालय की उप कुलपति प्रो. सुनयना सिंह, विदेश मंत्रालय की सचिव (ईस्ट) सुश्री प्रीति सरन विशिष्ट वक्ता के रूप में शामिल होंगे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान आज “दिल से” कार्यक्रम में किसानों से बात करेंगे


12 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान बलराम जयंती पर 13 अगस्त, 2017 को किसानों से “दिल से” कार्यक्रम में किसानों से बात करेंगे। यह कार्यक्रम आकाशवाणी के सभी केन्द्रों और दूरदर्शन मध्यप्रदेश से शाम 6 से 6.30 बजे के बीच प्रसारित होगा।


aaसर्दी, खाँसी, बुखार को नजर अंदाज न कर तुरंत परीक्षण करवायें


12 Aug 2017

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री रूस्तम सिंह ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि वे सर्दी, खाँसी, जुकाम, बुखार, तेज सिरदर्द, गले की खराबी और सांस लेने में परेशानी होने पर तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में परीक्षण करवायें। परीक्षण में विलंब स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव डाल सकता है। परीक्षण में फ्लू पाये जाने पर चिकित्सक की सलाह के अनुसार दवा का पूरा कोर्स ले। गर्म तरल पदार्थ का अधिक से अधिक सेवन करें। नाक, आँख, मुँह का स्पर्श करने से पहले साबुन से हाथ धोये। खांसते और छीकतें समय मुँह एवं नाक पर कपड़ा रखें। श्री सिंह ने कहा कि मौसम में आर्दता और ठंडक बढ़ने से तमाम ऐहतियात के बावजूद देश एवं प्रदेश में स्वाईन फ्लू के प्रकरणों की संख्या बढ़ती जा रही है। प्रदेश में एक जुलाई से अब तक स्वाईन-फ्लू के संदिग्ध 131 मरीजों के सेम्पल का परीक्षण किया जा चुका है। इनमें से 24 में स्वाईन-फ्लू की पुष्टि हुई है। इंदौर में आज 58 वर्ष की एक महिला की मृत्यु होने के साथ प्रदेश में स्वाईन फ्लू के मृतकों की संख्या 4 हो गई है। यह महिला डायबिटीज, ब्लड प्रेशर की मरीज थी और पिछले कुछ दिनों से वेन्टीलेटर सर्पोट पर थी।


aaप्रदेश में 121 लाख हेक्टेयर से अधिक रकबे में खरीफ की बोनी पूरी


11 Aug 2017

प्रदेश में इस वर्ष खरीफ सीजन में अब तक 121 लाख 43 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में खरीफ की बोनी की जा चुकी है। राज्य में बोयी गयी खरीफ फसलों की स्थिति सामान्य रूप से संतोषजनक है। वर्तमान में किसी कीट-बीमारी का विशेष प्रकोप देखने में नहीं आया है। राज्य के कुछ क्षेत्रों में वर्षा सामान्य से कम होने के बाद भी आवश्यक नमी होने के कारण फसलों का विकास बराबर बना हुआ है। किसान-कल्याण तथा कृषि विकास संचालक श्री मोहनलाल के अनुसार प्रदेश में खरीफ फसलों की बोनी का काम लगभग पूरा हो चुका है। राज्य में 132 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में बोनी किये जाने का कार्यक्रम तय किया गया है। अब तक करीब 92 प्रतिशत बोनी का कार्य पूरा किया जा चुका है। खरीफ सीजन में अनाज की फसलों में धान 23 लाख 60 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में बोने का कार्यक्रम तय किया गया है। अब तक धान की 18 लाख 6 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में बोनी की जा चुकी है, जो पिछले वर्ष के मुकाबले अधिक है। अनाज की अन्य फसल मक्का की 12 लाख 85 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में बोनी किये जाने का लक्ष्य तय किया गया था। इसके विरुद्ध लक्ष्य से अधिक करीब 13 लाख 11 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में मक्का की बोनी की गयी है, जो पिछले वर्षों के मुकाबले में अधिक है। किसानों ने मक्का की बुआई में अच्छी दिलचस्पी दिखायी है। खरीफ सीजन में अनाज फसलों की कुल 36 लाख 20 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में बोनी की गयी है। प्रदेश में अब तक सोयाबीन की 48 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में बोनी की गयी है। इस वर्ष सोयाबीन का 53 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में बोनी किये जाने का कार्यक्रम तय किया गया है। खरीफ सीजन में इस वर्ष तिलहनी फसलों में करीब 54 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में बोनी का कार्य पूरा किया जा चुका है। कपास की बुआई 5 लाख 80 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में किसानों द्वारा की गयी है। राज्य में 25 लाख 88 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में दलहन फसलों की बुआई की गयी है। इसमें तुअर की शत-प्रतिशत 6 लाख 50 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में और उड़द की 17 लाख 16 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में बोनी किसानों द्वारा की गयी है। प्रदेश में अब तक 480 मिलीमीटर औसत वर्षा हुई है। प्रदेश में आमतौर पर अगस्त के दूसरे सप्ताह तक सामान्य औसत वर्षा 550.9 मिलीमीटर होती है।


aaविकासखण्ड स्तर पर 50 लाख की लागत से आजीविका भवन बनेंगे


11 Aug 2017

पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन की महिलाओं के स्व-सहायता समूह के प्रशिक्षण एवं उन्मुखीकरण कार्यक्रम में कहा कि प्रदेश में स्व-सहायता समूह के लिए विकासखण्ड स्तर पर 50 लाख की लागत से आजीविका भवन बनाये जायेगें। उन्होंने कहा कि इन आजीविका भवनों को सुसज्ज्ति तरीके से बनाया जायेगा, जिसमें ट्रेनिंग सेन्टर के लिए हॉल, कम्प्यूटर, कुर्सियां, दरी, टी.वी. इत्यादि की पूरी व्यवस्था रहेगी। उन्होंने कहा कि इन भवनों में बाहर से आई बहनों के रूकने के लिए कमरे और मार्केटिंग के लिए दुकानें बनाई जायेंगी, ताकि स्व-सहायता समूह अपने उत्पाद का विक्रय भी कर सके। श्री भार्गव ने कहा कि आजीविका भवन निर्माण की राशि स्‍व-सहायता समूह को उनके बैंक खाते में सीधे उपलब्ध करवाई जायेगी। स्व-सहायता समूह द्वारा ही इसका निर्माण किया जायेगा। श्री भार्गव ने कहा कि प्रत्येक विकासखण्ड में बाजार के पास या जहाँ से बस एवं रेल्वे स्टेशन नजदीक हो ऐसी जगह आजीविका भवन के लिए चिन्हित की जायेगी। श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि महिलायें स्व-समूह से जुड़कर स्वाबलंबी बनें और अपने-अपने जिले से संबंधित उद्योग जैसे अगरबत्ती निर्माण, शरबती गेंहूँ का आटा, सेनेटरी नेपकिन, हेण्डलूम चादरें, साबुन इत्यादि सामग्री का उत्पादन बड़े स्तर पर करें। सरकार इसमें पूरी मदद करने का प्रयास करेगी। उन्होंने कहा कि स्व-सहायता समूह अपने प्रोडक्ट बढ़ायें, जिनके प्रचार-प्रसार भी सरकार करेगी। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के आयोजन से महिलाओं को नये-नये उत्पादन करने की सलाह आपस में एक दूसरे को मिलती है। नारी शक्ति से ही प्रदेश आगे बढ़ेगा इसीलिए वे खुले आकाश में पक्षी की तरह उड़ान भरें। हम सभी आपके पंख बनेगें और बहुमूल्य सुझावों को पूरा करवाने का प्रयास करेगें। श्री भार्गव ने विभिन्न जिला एवं विकासखण्डों के स्व-सहायता समूह के वैश्विक उत्पादन की प्रदर्शनी में स्टॉल का भी अवलोकन किया और उत्पादों के बारें में जानकारी ली। महिलाओं ने आर्थिक प्रगति एवं कार्य में आने वाली कठिनाईयों के संबंध में उन्हें बताया। श्री भार्गव ने कठिनाईयों को दूर करने का आश्वासन दिया। कार्यक्रम में पंचायत एवं ग्रामीण विकास के अपर मुख्य सचिव श्री राधेश्याम जुलानिया, मिशन के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एल.एम बेलवाल, नाबार्ड एवं बैंक के अधिकारी तथा ग्रामीण स्व-सहायता समूह की अध्यक्ष एवं सदस्‍य उपस्थित थी।


aaपंजाबी बाग और करोंद में रक्षाबंधन महोत्सव में शामिल हुए राज्य मंत्री श्री सारंग


11 Aug 2017

रक्षाबंधन महोत्सव के आज दूसरे दिन सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी, राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग पंजाबी बाग और करोंद में आज हुए रक्षाबंधन महोत्सव कार्यक्रमों में शामिल हुए। कार्यक्रम में हजारों की संख्या में मौजूद बहनों ने राज्य मंत्री श्री सारंग को राखी बाँधी। राज्य मंत्री श्री सारंग ने दोपहर में पंजाबी बाग गुरूद्वारा के पास पहुँचकर रक्षा बंधन महोत्सव में बहनों को संबोधित किया और सभी से राखी बंधवाई। पंजाबी बाग में आयोजित कार्यक्रम में वार्ड 70 और आसपास की बहने मौजूद थीं। दोपहर बाद वह करोंद क्षेत्र में कनक मैरिज गार्डन में आयोजित रक्षाबंधन महोत्सव में पहुँचे। यहाँ पर उन्होंने वार्ड 75 और आसपास के क्षेत्रों की बहनों से राखी बंधवाई। राज्य मंत्री श्री सारंग रक्षाबंधन महोत्सव में धर्मपत्नी श्रीमती रूमा सारंग के साथ पहुँचे। स्थानीय पार्षद और अन्य जन-प्रतिनिधि भी राज्य मंत्री श्री सारंग के साथ मौजूद थे। रक्षाबंधन महोत्सव कार्यक्रम में बहनों ने परम्परागत अंदाज में राज्य मंत्री श्री सारंग का स्वागत किया।


aaराज्य मंत्री श्री सारंग ने छोला और ऐशबाग क्षेत्र में पहुँचकर राखी बँधवाई


10 Aug 2017

सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी, राहत और पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने आज छोला दशहरा मैदान और ऐशबाग स्टेडियम के सामने चाणक्यपुरी चौराहे के पास पहुँचकर बहनों से राखी बँधवाई। राज्य मंत्री श्री सारंग पिछले 8 वर्षों से लगातार विधानसभा क्षेत्र में पहुँचकर राखी महोत्सव में बहनों से राखी बँधवाते आ रहे हैं। इस क्रम में यह नवां वर्ष है। राज्य मंत्री श्री सारंग ने राखी महोत्सव को संबोधित करते हुए कहा कि रक्षाबँधन पर्व भाई और बहन के बीच का रिश्ता है। भाई और बहन परस्पर एक-दूसरे के प्रति सदभाव और प्यार का संकल्प लेते हैं। उन्होंने कहा कि वह पिछले वर्षों से लगातार नरेला विधानसभा क्षेत्र में रक्षाबँधन पर्व के अवसर पर राखी बँधवाने आते हैं। बहनें भी पूरी उत्सुकता के साथ रक्षाबँधन पर्व का इंतजार करती हैं और रक्षाबँधन महोत्सव में हजारों की संख्या में बहनें उनकी कलाई पर राखी भी बाँधती हैं। यह बहुत सुखद अवसर होता है। उन्हें इससे बहुत प्रसन्नता मिलती है। छोला दशहरा मैदान और ऐशबाग क्षेत्र में हजारों की संख्या में बहनों ने राखी बाँधी। राज्य मंत्री श्री सारंग ने धर्मपत्नी श्रीमती रूमा सारंग के साथ सभी बहनों से राखी बँधवाई। राखी महोत्सव स्थल पर उत्सव का माहौल नजर आ रहा था। मैदान में झूला भी लगाया गया था, जिस पर झूलने का आनंद लिया जा रहा था। राखी महोत्सव 11 अगस्त को वार्ड-70 और 75 में होगा।


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने भिण्ड में 165 हितग्राहियों को दिये ऋण स्वीकृति-पत्र


10 Aug 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री तथा भिण्ड जिले के प्रभारी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने भिण्ड में जिला स्व-रोजगार सम्मेलन में विभिन्न योजनान्तर्गत 165 हितग्राहियों को ऋण स्वीकृति-पत्र वितरित किये। श्री गुप्ता ने कहा कि युवा स्व-रोजगार स्थापित कर दूसरों को भी रोजगार दें। श्री गुप्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना में 10 लाख से एक करोड़ तक और मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में 5 से 10 लाख तक का ऋण दिया जाता है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री प्रदेश के हर व्यक्ति को आवास और रोजगार उपलब्ध करवाने की दिशा में कार्य कर रहे हैं। डीईओ कार्यालय का भूमि-पूजन श्री गुप्ता ने भिण्ड में 80 लाख रुपये की लागत से बनने वाले जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय भवन का भूमि-पूजन किया। उन्होंने डाईट परिसर में पौध-रोपण भी किया। 44 लाख की लागत से सड़क का भूमि-पूजन राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने भिण्ड जिले में प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना में मुहोड़-मधुपुरा मार्ग से रोरा तक बनने वाली सड़क का भूमि-पूजन किया। सड़क की लागत 44 लाख रुपये है। इस मौके पर श्री गुप्ता ने किसानों को खसरा-खतौनी की नकल भी प्रदान की। इस दौरान नर्मदा घाटी विकास (स्वतंत्र प्रभार), सामान्य प्रशासन एवं आदिम-जाति कल्याण राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य, विधायक श्री नरेन्द्र सिंह कुशवाह एवं अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaप्रदेश के अस्पतालों में है स्वाइन फ्लू, डेंगू से निपटने की पर्याप्त व्यवस्था


10 Aug 2017

प्रदेश के सभी जिलों में स्वाइन फ्लू और डेंगू से निपटने के लिये आइसोलेशन वार्ड बनाये गये हैं। इसके अलावा प्रदेश के सभी चिकित्सा महाविद्यालयों के अस्पतालों में भी स्वाइन फ्लू उपचार की पर्याप्त व्यवस्था है। गत माह से सक्रिय इन वार्डों के क्रिया-कलापों की समीक्षा आज स्वास्थ्य आयुक्त श्रीमती पल्लवी जैन ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से की। विषय-विशेषज्ञ और गांधी मेडिकल कॉलेज के विभागाध्यक्ष डॉ. लोकेन्द्र दवे और एम्स के माइक्रो बॉयोलॉजिस्ट डॉ. देवाशीष विश्वास ने सभी जिलों के सिविल सर्जन-सह-मुख्य अस्पताल अधीक्षक, मेडिकल विशेषज्ञ और ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर को संक्रामक रोगों के संबंध में भारत सरकार की गाइड-लाइन, स्वाइन फ्लू से बचाव और उपचार आदि पर प्रस्तुतिकरण दिया। प्रमुख सचिव स्वास्थ्य के निर्देश पर सभी जिलों को गाइड-लाइन भेज भी दिये गये हैं। संचालक स्वास्थ्य डॉ. साहू ने बताया कि 300 से अधिक पलंग वाले अस्पतालों में 10 पलंग, 100 से 300 तक में 5 और 50 बिस्तर वाले अस्पतालों में दो पलंग स्वाइन फ्लू मरीजों के लिये आरक्षित हैं। पड़ोसी राज्यों में बढ़ती संख्या के मद्देनजर प्रदेश में स्वाइन फ्लू के प्रति सभी अस्पतालों को अलर्ट किया जा चुका है। यही कारण है कि प्रभावी रोकथाम के चलते अधिकांश मरीज स्वस्थ हुए हैं। बहुत देर से अस्पताल लाये जाने के कारण मात्र एक मृत्यु हुई है। जे.पी. अस्पताल में 18 जुलाई से सक्रिय है स्वाइन फ्लू वार्ड जे.पी. अस्पताल में स्वाइन फ्लू और डेंगू के उपचार के लिये पिछले कुछ सालों से स्थायी तौर पर वार्ड बनाये गये हैं। इस वर्ष यह वार्ड प्रथम तल से भूतल पर स्थानांतरित कर 18 जुलाई से सक्रिय हैं। वेंटीलेटर सहित यहाँ मरीज के उपचार और पैथालॉजी जाँच की पूरी सुविधाएँ हैं। सात पलंग का आइसोलेटेड स्वाइन फ्लू वार्ड और 10 पलंग का डेंगू वार्ड बनाया गया है। वार्ड में नर्सिंग स्टॉफ, दवाई, उपकरण, सक्सन मशीन, वीटीएन किट, पीपीई किट, एन-95 मास्क, प्लेन मास्क, दस्ताने, बी.पी. इन्स्ट्रूमेंट, ओ.टी. गैस फालो मीटर, ई-पेड मॉनीटर, टेमी-फ्लू दवा सहित अन्य आवश्यक दवाओं की पर्याप्त व्यवस्था है। स्वाइन फ्लू मरीजों के लिये अलग से ओपीडी बनायी गयी है, ताकि सामान्य ओपीडी में आने वाले मरीज इनके सम्पर्क में न आयें। ओपीडी में अब तक 167 मरीजों की जाँच की गयी है। इनमें से सी-केटेगरी के एक संभावित मरीज को 9 अगस्त से आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर विधिवत इलाज किया जा रहा है। स्वाइन फ्लू से घबराये नहीं, बस सतर्क रहें डॉ. लोकेन्द्र दवे ने आज जे.पी. अस्पताल के स्वाइन फ्लू वार्ड का मुआयना किया और नर्स एवं स्टॉफ को प्रशिक्षण दिया। डॉ. दवे ने बताया कि स्वाइन फ्लू से भयभीत होने की कतई जरूरत नहीं है। स्वाइन फ्लू के वायरस मरीज से 4 फीट की दूरी तक ही प्रभावी रहते हैं। मरीज को दवा देने के बाद सेनीटाइजर से अच्छी तरह हाथ साफ कर लें। डॉ. दवे ने कहा कि प्लेन मास्क रोग से बचाव के लिये पर्याप्त है। उन्होंने मास्क पहनने का उचित तरीका भी बताया। डॉ. दवे ने कहा कि मास्क फेंकने के दो घंटे बाद कीटाणु स्वत: ही नष्ट हो जाते हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा आज भी डेंगू, स्वाइन फ्लू, चिकनगुनिया आदि रोगों की दैनिक समीक्षा की जाकर संबंधित जिलों को दिशा-निर्देश जारी किये गये।


aaनये मध्यप्रदेश का निर्माण करने का संकल्प ले युवा शक्ति : मुख्यमंत्री श्री चौहान


9 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने युवाओं से आव्हान किया कि वे नये भारत का निर्माण करने के लिये नये मध्यप्रदेश का निर्माण करने आगे आयें। उन्होंने कहा कि यूथ फॉर न्यू मध्यप्रदेश की अवधारणा के अंतर्गत सभी जिलों में युवा क्लब बनाये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने युवाओं से कहा कि गरीबी मुक्त मध्यप्रदेश बनाने का संकल्प लें। श्री चौहान आज यहां शौर्य स्मारक प्रांगण में भारत छोड़ो आंदोलन की 75वी वर्षगाँठ पर युवाओं को संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान ने कहा कि युवाओं को सीमाओं पर तैनात जाबांज जवानों से संवाद करने भेजने और देशभक्ति की प्रेरणा देने के लिये शुरू की गई माँ तुझे प्रणाम योजना में अब अंडमान और निकोबार को भी शामिल किया जायेगा ताकि युवा जान सकें कि क्रांतिकारियों ने कितनी यातनायें सहीं। श्री चौहान ने युवाओं से आतंकवाद, जातिवाद, संप्रदायवाद, भ्रष्टाचार और गरीबी मुक्त मध्यप्रदेश बनाने का संकल्प लेने का आव्हान किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी ने आतंकवाद, संप्रदायवाद, गरीबी, भ्रष्टाचार और जातिवाद मुक्त भारत का जो सपना देखा है, उसे पूरा करने में मध्यप्रदेश के युवा भी भरपूर योगदान देंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने युवाओं से संवाद करते हुये उन्हें विस्तार से बताया कि आजादी की लड़ाई की शुरूआत कैसे हुई और कैसे क्रांतिकारी एवं अहिंसात्मक आंदोलन साथ-साथ चले। उन्होंने कहा कि आजादी आसानी से नहीं मिली। हजारों क्रांतिकारियों ने अपने जीवन का बलिदान दिया। उन्होंने कहा कि अंग्रेजों के खिलाफ क्रांति की शुरूआत 1857 से हुई। क्रांतिकारियों ने मेरठ से दिल्ली की तरफ मार्च किया। श्री चौहान ने कहा कि अपनों की गद्दारी के कारण 1857 की क्रांति सफल नहीं हो सकी लेकिन लड़ाई जारी रही। लाल, बाल, पाल की जोड़ी ने क्रांति में नई जान फूंकी। गांधी जी ने असहयोग आंदोलन चलाया। एक तरफ क्रांतिकारियों का आंदोलन था दूसरी तरफ अहिंसावादी आंदोलन था। उन्होंने युवाओं को बताया कि कैसे क्रांतिकारियों ने यातनायें सहीं। कैसे चन्द्रशेखर, सुभाषचन्द्र बोस और भगत सिंह जैसे क्रांतिकारियों ने देश की आजादी के लिये काम किया। गांधी जी ने करो या मरो का नारा दिया और भारत छोड़ो आंदोलन आगे बढ़ा। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत छोड़ो आंदोलन हर देशभक्त नागरिक का आंदोलन बन गया था। मध्यप्रदेश में भी कई क्रांतिकारियों ने कुरबानी दी। बैतूल में ग्यारह देशभक्त शहीद हुये, इंदौर में दस और जबलपुर में भी क्रांतिकारियों ने आजादी के लिये अपनी जान दी। श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश युवाओं का प्रदेश है। युवाओं के लिये राज्य सरकार ने कई अनूठी योजनायें शुरू की हैं। उन्होंने कहा कि प्रतिभावान विद्यार्थियों की पढ़ाई का खर्चा सरकार उठायेगी शिक्षा में धन की कमी को बाधा नहीं बनने दिया जायेगा। मुख्मयंत्री स्वरोजगार, मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना, मुख्यमंत्री युवा कॉन्ट्रेक्टर योजना जैसी योजनायें गिनाते हुए मुख्यमंत्री ने युवाओं का आव्हान किया कि इन योजनाओं का लाभ उठाने आगे आयें। नौकरी मांगने वाले नही नौकरी देने वाले बनें। उन्होंने कहा कि वे युवाओं को आशाओं और आत्मविश्वास से भरा देखना चाहते हैं। वे प्रदेश के लिये सही दिशा में सोचें और अच्छा काम करें। श्री चौहान ने युवाओं को नया मध्यप्रदेश गढ़ने का संकल्प दिलाया और कहा कि आगामी 15 अगस्त को सभी युवा उत्साहपूर्वक मनायें। सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग ने कहा कि स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के बलिदान के कारण भारत को स्वतंत्रता मिली। क्रांतिकारियों ने अपना सर्वस्व न्यौछावर कर भारत को आजादी दिलायी। उन्होंने युवाओं का आव्हान किया कि वे आजादी को चिरस्थायी बनाने का संकल्प लें। उन्होने युवाओं को भारत छोड़ो आंदोलन की स्मृति से जोड़ने की पहल करने के लिये मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया । इससे पहले श्री चौहान ने भोपाल के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों श्री मानिक चंद चौबे, श्रीमती शर्मा, श्री जमीर खान, श्री मुख्तार खान, श्री लक्ष्मीकांत मिश्रा का शॉल एवं श्रीफल भेंट कर सम्मान किया। श्री चौहान ने विभिन्न स्कूलों और महाविद्यालयों द्वारा भारत छोड़ो आंदोलन की स्मृति में दी गई प्रस्तुतियों के लिये एक–एक लाख रूपये की सम्मान निधि देने की घोषणा भी की। प्रारंभ में श्री चौहान ने शौर्य स्मारक में अमर शहीदों का स्मरण किया और श्रद्धासुमन अर्पित किये। कार्यक्रम के आरंभ में मुख्यमंत्री ने महात्मा गांधी के चित्र पर पुष्प अर्पित किया और प्रतीक स्वरूप आजादी की मशाल प्रज्जवलित की। प्रमुख सचिव संस्कृति श्री मनोज श्रीवास्तव ने आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर विधायक श्री सुरेन्द्र नाथ सिंह, भोपाल महापौर श्री आलोक शर्मा, श्रीमती साधना सिंह चौहान एवं बड़ी संख्या में राजधानी के युवा और स्कूल, कॉलेजों के विद्यार्थी उपस्थित थे।


aaश्रीमती सिंधिया द्वारा शिवपुरी में नव-निर्मित आरटीओ भवन लोकार्पित


9 Aug 2017

खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने शिवपुरी में तीन करोड़ रुपये की लागत से नव-निर्मित जिला परिवहन कार्यालय भवन का लोकार्पण किया। श्रीमती सिंधिया ने इस अवसर पर कु. मोनिका मुदगल, कु. दीक्षा शर्मा, कु. वर्षा शर्मा तथा श्री मोहन दीक्षित को नि:शुल्क लर्निंग लायसेंस दिये। खेल एवं युवक कल्याण मंत्री ने इस मौके पर कार्यालय परिसर में पौधरोपण भी किया। कार्यक्रम में विधायक श्री प्रहलाद भारती तथा वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


aa"न्यू इंडिया मंथन" पर वी‍डियो कान्फ्रेंस संपन्न


9 Aug 2017

प्रधानमंत्री द्वारा 'न्यू इंडिया मंथन' पर आयोजित वी‍डियो कान्फ्रेंसिंग में वर्ष 2022 तक विकास के एजेंडा पर अपने दृष्टिकोण से समस्त महत्वपूर्ण अधिकारियों तथा जिला कलेक्टर्स को अवगत कराया गया। वीडियो कान्फ्रेंसिंग में मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए. पी. श्रीवास्तव, कृषि उत्पादन आयुक्त श्री पी. सी. मीना, अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन श्री प्रभांशु कमल, , प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर श्री मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव कृषि श्री राजेश राजौरा सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। प्रदेश के जिला कलेक्टर्स ने जिला एनआईसी केंद्रों से इस वीडियो कान्‍फ्रेंसिंग में भाग लिया।


aaराज्य खाद्य आयोग की सदस्य श्रीमती उपाध्याय ने पदभार ग्रहण किया


9 Aug 2017

मध्यप्रदेश राज्य खाद्य आयोग की नव-नियुक्त सदस्य श्रीमती स्नेहलता उपाध्याय ने आज दोपहर में सतपुड़ा भवन स्थित आयोग के कार्यालय में पदभार ग्रहण किया। इस अवसर पर खाद्य आयोग के अध्यक्ष श्री आर.के. स्वाई और आयोग के अन्य अधिकारी-कर्मचारी मौजूद थे


aaअल्पसंख्यक सेवा राज्य पुरस्कार 2016-17 के लिए 31 अगस्त तक आवेदन आमंत्रित


8 Aug 2017

अल्पसंख्यक राज्य सेवा पुरस्कार वर्ष 2016-17 के लिए 31 अगस्त तक आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। राज्य शासन प्रति वर्ष प्रदेश में अल्पसंख्यक वर्ग के व्यक्तियों को उत्कृष्ट सेवाओं के लिए 'शहीद अशफाक उल्लाह खॉ, शहीद हमीद खॉ तथा मौलाना अब्दुल कलाम आज़ाद' पुरस्कारों से सम्मानित किया जाता है। इन पुरस्कारों के अन्तर्गत चयनित व्यक्ति को एक लाख रुपये नगद तथा प्रशंसा पट्टिका प्रदान की जाती है। मध्यप्रदेश अल्पसंख्यक वर्ग सेवा राज्य पुरस्कार 2016-17 के लिए राज्य के समाजसेवी अपनी प्रविष्टियाँ 31 अगस्त तक आयुक्त, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण, द्वितीय तल सतपुड़ा भवन, भोपाल को प्रस्तुत कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए विभाग की www.bewwelfar.mp.in.nic.in वेबसाइट पर लॉगआन कर सकते हैं।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान शौर्य स्मारक में रात 8 बजे करेंगे युवा संवाद


8 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान बुधवार 9 अगस्त को भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ पर भोपाल स्थित शौर्य स्मारक पर रात 8 बजे 'युवा संवाद' करेंगे। मुख्यमंत्री इस संवाद में युवाओं को भ्रष्टाचार, आतंकवाद, जातिवाद और साम्प्रदायिकता भारत छोड़ो का संकल्प भी दिलवायेंगे। प्रदेश की युवा पीढ़ी को स्वतंत्रता आंदोलन के महत्व और स्मृतियों से अवगत कराने के मकसद से भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ पर विविध कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इसी कड़ी में शौर्य स्मारक पर 9 अगस्त की रात 8 बजे वंदे मातरम् की प्रस्तुति के साथ युवा संवाद की शुरूआत होगी। युवा संवाद में शामिल होने वाले युवा वर्ग अपने जिज्ञासापूर्ण प्रश्न भी पूछ सकेंगे। युवा संवाद में स्कूल शिक्षा विभाग के कक्षा 11वीं एवं 12वीं के युवा तथा उच्च शिक्षा विभाग के महाविद्यालयीन छात्र-छात्राएँ हिस्सा लेंगे। इसमें एन.सी.सी., एन.एस.एस., स्काउट-गाइड और 'माँ तुझे प्रणाम' योजना के विद्यार्थियों के अलावा दिव्यांग युवा भी शामिल होंगे। कार्यक्रम में देशभक्ति आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति भी होगी। जिला स्तर पर भी कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे जिनमें प्रभारी मंत्री मौजूद रहेंगे। भोपाल के मुख्य युवा संवाद के कार्यक्रम का प्रसारण दूरदर्शन एवं आकाशवाणी के सभी केन्द्रों और एफ.एम. रेडियो से किया जाएगा।


aaजनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने उज्जवला योजना में बाँटे निःशुल्क गैस सिलेण्डर


8 Aug 2017

मजनसंपर्क, जल-संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने उज्जवला योजना के अंतर्गत दतिया में महिलाओं को निःशुल्क गैस सिलेण्डर वितरित किए। जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी तथा मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की पहल पर गरीब महिलाओं को उज्जवला योजना में निःशुल्क गैस कनेक्शन वितरित किए जा रहे हैं। श्री मिश्र ने कहा कि हमारी बहनें जब चूल्हे पर रोटी बनाती थीं तो कई बार लकड़ियां गीली होने के कारण चूल्हा नहीं जलता था। चूल्हा फूंकते-फूंकते बहनों की आँखों में आंसू आ जाते थे। सरकार ने बहनों की इस पीड़ा को समझा और उज्जवला योजना प्रारंभ की। दतिया जिले में अभी तक 58 हजार लक्ष्य के मुकाबले 30 हजार 200 निःशुल्क गैस सिलेण्डर वितरित किए गए हैं। प्रति सोमवार और मंगलवार को जन सुनवाई में आने वाले महिलाएं जो गैस सिलेण्डर की माँग करती हैं, उनके आवेदन का परीक्षण कर मौके पर ही गैस सिलेण्डर दिए जाते हैं।


aaनश्वर उत्पादों की भडारण क्षमता में वृद्धि के लिए 5 लाख मीट्रिक टन के शीत गृह बनेगें


8 Aug 2017

राज्य शासन द्वारा कृषि को लाभकारी बनाने के लिए उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण विभाग के माध्यम से महत्वपूर्ण योजनाएँ संचालित की जा रही है। इसमें मुख्य रूप से फल-सब्जी, मसाला, पुष्प तथा औषधीय फसलों का क्षेत्रफल उत्पादन एवं उत्पादकता बढाने के लिए अनुदान सहायता एवं तकनीकी मार्गदर्शन विभाग द्वारा सतत प्रदाय किया जा रहा है। प्रदेश में उद्यानिकी का रकबा 17.12 लाख हेक्टेयर हो गया है। उत्पादित उद्यानिकी एवं कृषि फसलों पर आधारित खाद्य प्र-संस्करण उद्योगों की स्थापना के लिए अनुदान सहायता संबंधी नवीन प्रावधान उद्योग संवर्धन नीति-2014 में जोड़े गये हैं। इससे प्रदेश में कृषि एवं उद्यानिकी आधारित उद्योगों की संख्या बढ़ेगी एवं उद्यानिकी उत्पाद निरंतर बाजार में उपलब्ध हो सकेंगे। निजी क्षेत्र में आगामी दो वर्षों में पाँच लाख मीट्रिक टन अतिरिक्त भण्डारण क्षमता के शीत गृह निर्मित कराये जाने के लिए नश्वर उत्पादों की भण्डरण क्षमता में वृद्धि की विशेष योजना स्वीकृत की गई है। इस योजना से अभी तक 5 लाख मीट्रिक टन से अधिक क्षमता के शीत गृह निर्मित किए जायेंगे। शीत गृहों के निर्माण से फसलोत्तर नुकसान की कमी होगी और अधिक उत्पादन की स्थिति में मूल्यो में गिरावट को भी आंशिक रूप से रोका जा सकेगा। प्रदेश में प्याज भण्डारण की वर्तमान क्षमता को दो वर्षों में बढ़ाकर 5 लाख मीट्रिक टन किए जाने के लक्ष्य के विरूद्ध अभी तक 70 हजार मीट्रिक टन क्षमता के प्याज भण्डार गृहों का निर्माण किया जाकर 14 करोड़ 92 लाख की अनुदान राशि कृषकों को दी गई है। खाद्य प्र-संस्करण उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए विशिष्ट वित्तीय सहायता का प्रावधान किया गया है, जिसके अन्तर्गत 155 प्रस्ताव ऑनलाइन प्राप्त हुए है।


aaउज्जैन में मुख्यमंत्री श्री चौहान से मिशन तिरंगा के विद्यार्थियों ने की भेंट


7 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान रक्षाबंधन के पवित्र अवसर एवं बाबा महाकाल की श्रावण मास में निकलने वाली अंतिम सवारी के दिन सोमवार को उज्जैन पहुँचे। हैलीपैड पर मिशन तिरंगा के अंतर्गत विद्यार्थी कु. उर्वशी जैन, कु. कनिष्क परिहार आदि ने मुख्यमंत्री श्री चौहान से मुलाकात की। उन्होंने बताया कि वे घर-घर जाकर तिरंगा वितरण कर रहे हैं और लोगों को जागरूक कर रहें कि ध्वज संहिता के अनुसार तिरंगा फहराएँ।। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बच्चों को कहा कि वे ट्वीट करके अपना संदेश पहुँचायेंगे। हैलीपैड पर मुख्यमंत्री श्री चौहान का स्वागत ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन, उज्जैन विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री जगदीश अग्रवाल, महापौर श्रीमती मीना जोनवाल, सांसद डॉ. चिन्तामण मालवीय, विधायक डॉ. मोहन यादव सहित अन्य जन-प्रतिनिधियों ने किया।


aaमुख्यमंत्री ने भगवान महाकाल का अभिषेक कर पूजा-अर्चना की


7 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह एवं पुत्र श्री कार्तिकेय के साथ श्रावण मास के अंतिम सोमवार को रक्षाबंधन के दिन अपने उज्जैन प्रवास पर श्री महाकालेश्वर मंदिर में भगवान महाकाल का अभिषेक कर पूजा-अर्चना की। मुख्यमंत्री ने भगवान महाकाल से सबके कल्याण, सुख-समृद्धि की कामना की।


aaसरदार सरोवर बाँध के विस्थापितों के समुचित पुनर्वास के लिए प्रतिबद्ध हूँ : मुख्यमंत्री श्री चौहान


7 Aug 2017

मैं संवेदनशील व्यक्ति हूँ। चिकित्सकों की सलाह पर मेधा पाटकर जी व उनके साथियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया, गिरफ्तार नहीं किया गया है। उनकी स्थिति हाई कीटोन और शुगर के कारण चिंतनीय थी। इनके स्वास्थ्य और दीर्घ जीवन के लिए हम प्रयासरत हैं। विस्थापितों के पुनर्वास के लिए प्रदेश सरकार ने नर्मदा पंचाट व सुप्रीम कोर्ट के आदेश पालन के साथ 900 करोड़ का अतिरिक्त पैकेज देने का काम किया। विस्थापितों के पुनर्वास के संबंध में मेधा पाटकर जी को पूरी जानकारी देकर राज्य सरकार ने उन्हें संतुष्ट करने की पूरी कोशिश की है। सरदार सरोवर बांध के विस्थापितों को बेहतर से बेहतर सुविधा मिले, हर संभव प्रयास किया गया है और यह प्रयास जारी है। मैं प्रदेश का प्रथम सेवक हूँ और मैं सरदार सरोवर बाँध के विस्थापित अपने प्रत्येक भाई-बहन के समुचित पुनर्वास के लिए प्रतिबद्ध हूँ।


aaरेरा एक्ट के तहत म.प्र. में सर्वाधिक पंजीयन


5 Aug 2017

रियल एस्टेट रेग्यूलटरी एक्ट के लागू होने के बाद से आवासीय एवं व्यवसायिक प्रोजेक्ट का सर्वाधिक पंजीयन मध्यप्रदेश में हुआ है। प्राधिकरण की वेबसाइट पर निर्धारित तिथि तक कुल 1218 प्रोजेक्ट पंजीयन के लिये ऑनलाईन आवेदन जमा किये जा चुके हैं। इसमें 150 पंजीयन शासकीय एजेन्सियों द्वारा करवाया गया है। 31 जुलाई तक प्राधिकरण की वेबसाइट पर कुल 1380 प्रोजेक्ट के आवेदन पंजीकरण के लिए प्राप्त हो चुके हैं। प्राधिकरण द्वारा निर्णय लिया गया है कि निर्धारित समय के पश्चात विलंब से जमा कराये जाने वाले प्रकरणों में निर्धारित मानक फीस से डेढ़ गुना अधिक शुल्क का भुगतान आवेदक डेवलपर्स को करना होगा। ऐसे प्रकरणों में भी आवेदकों को डेढ़ गुना अधिक शुल्क का भुगतान करना होगा जिनके द्वारा फीस का भुगतान किया जा चुका है, किन्तु वे अपने प्रोजेक्ट ऑनलाईन भरकर जमा नहीं कर सके हैं। उल्लेखनीय है कि भू-सम्पदा अधिनियम-2016 के 1 मई से प्रभावशील होने के पश्चात प्रचलित और नवीन प्रोजेक्ट की कार्रवाई प्रारंभ कर पंजीयन के लिये 31 जुलाई तक का समय निर्धारित किया गया था।


aaदतिया में सप्ताह में दो दिन विमान सेवा का शुभारंभ


5 Aug 2017

जनसंपर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज दतिया हवाई पट्टी पर पहुँची इंदौर-भोपाल-दतिया फ्लाइट की पायलेट टीम का स्वागत किया। ये आठ सीटर फ्लाइट प्रति शनिवार और सोमवार की सुबह दतिया जाकर शाम को वापस लौटेगी दतिया के विकास का नया आयाम - नियमित हवाई सेवा दतिया में इंदौर से भोपाल होकर सप्ताह में दो दिन की सुविधा शुरू होने से पर्यटन विकास में मदद मिलेगी। दतिया धार्मिक और प्राकृतिक पर्यटन की दृष्टि से प्रदेश का विशिष्ट जिला है। दतिया ऐसा जिला है जहाँ नगरीय क्षेत्र का विस्तार हुआ है और धार्मिक पर्यटन के क्षेत्र में इसका विशेष महत्व है। नियमित हवाई सेवा का लाभ मिलने से देश-विदेश के पर्यटक भी भोपाल और इंदौर से सीधे हवाई मार्ग द्वारा दतिया पहुँच सकेंगे। जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने हवाई सेवा शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान और राज्य शासन के प्रयासों को महत्वपूर्ण बताया है। प्रभातम ऐवियेशन की ओर से 8 सीटर क्षमता के छोटे विमान का इंदौर से दतिया ढाई घंटे और भोपाल से दतिया सवा घंटे का सफर है।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान जनता से सीधे करेंगे संवाद


4 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेश की जनता से सीधे जुड़ेंगे। मुख्यमंत्री प्रतिमाह रेडियो कार्यक्रम ‘दिल से’ के माध्यम से प्रदेश के नागरिकों से सीधा संवाद करेंगे। कार्यक्रम के माध्यम से श्री चौहान लोगों से जुड़े विभिन्‍न मुद्दों पर अपने विचार व्यक्त करेंगे और प्राथमिकतायें बतायेंगे। साथ ही शासन की नीतियों, कार्यक्रमों, योजनाओं और भविष्य की कार्य योजनाओं को आमजन से साझा करेंगे। पहला कार्यक्रम 13 अगस्त की शाम 6.00 बजे से प्रदेश के सभी आकाशवाणी केन्द्रों से रिले होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान इस कार्यक्रम के माध्यम से युवाओं, महिलाओं, किसानों, मजदूरों, व्यापारियों सहित सभी वर्गों से जुड़ेंगे। यह कार्यक्रम श्री चौहान की उन भावनाओं की अभिव्यक्ति के रूप में होगा, जिसमें वे खुलकर जनता से बात करेंगे। उनके कल्याण के लिये अपनी आत्मीय भावनाओं और प्रतिबद्धता को प्रगट करेंगे। मुख्यमंत्री का रेडियो कार्यक्रम ‘दिल से’ मध्यप्रदेश के सभी आकाशवाणी केन्द्रों से एक साथ प्रतिमाह निश्चित तिथि और निर्धारित समय पर प्रसारित होगा।


aaप्रदेश में 15 अगस्त से सभी गाँव में बी-1 का होगा वाचन


4 Aug 2017

मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह ने अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि इस वर्ष 15 अगस्त से प्रदेश के सभी गाँव में बी-1 का वाचन किया जाये और राजस्व प्रकरणों के निराकरण की स्थिति से ग्रामीणों को अवगत करवाया जाये। उन्होंने राजस्व अधिकारियों से इसके लिये ग्राम सभा का आयोजन करने को कहा। मुख्य सचिव आज रीवा में राजस्व प्रकरणों के निराकरण की बैठक में समीक्षा कर रहे थे। बैठक में प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरुण कुमार पाण्डे और प्रमुख सचिव लोक सेवा श्री हरिरंजन राव भी मौजूद थे। मुख्य सचिव ने सभी राजस्व प्रकरणों को दर्ज कर समय-सीमा में निराकरण सुनिश्चित करने के लिये कहा। उन्होंने कहा कि दो माह बाद संभाग-स्तर पर राजस्व प्रकरणों की समीक्षा की जायेगी। उन्होंने कहा कि लंबित प्रकरण निकलने पर और आवेदक के साथ अन्याय होने की स्थिति में जिम्मेदारी अधिकारी-कर्मचारी के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि राजस्व न्यायालयों का निरीक्षण वरिष्ठ नियंत्रक अधिकारी द्वारा नियमित रूप से किया जाये। बैठक में यह बात सामने आयी कि रीवा संभाग में अपेक्षाकृत अधिक राजस्व प्रकरण दर्ज होते हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए कमिश्नर कार्यालय में अपर आयुक्त के दो पद रखे जायें। बैठक में पटवारियों, नायब तहसीलदार, तहसीलदार आदि के रिक्त पदों पर शीघ्र भर्ती किये जाने के भी निर्देश दिये गये। राजस्व न्यायालय में राजस्व प्रकरणों के कम्प्यूटर में एन्ट्री के लिये 800 डाटा एन्ट्री ऑपरेटर पद पर भर्ती के लिये कलेक्टर को निर्देश ‍िदये गये हैं। बैठक में मुख्य सचिव ने कहा कि राजस्व प्रकरणों के निराकरण के लिये रिकार्ड-रूम में बेहतर प्रबंधन हो। पटवारी हल्का में 5 वर्ष से अधिक समय तक एक पटवारी की पद-स्थापना होने पर उनका अन्यत्र जगह पर स्थानांतरण किया जाये। दस वर्ष से अधिक एक पटवारी हल्का में पदस्थ रहने पर उनका अन्य तहसील में स्थानांतरण किया जाये। पटवारी के बस्ते की जाँच नियमित हो। प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरुण कुमार पाण्डे ने सीमांकन कार्य में मशीनों का शत-प्रतिशत उपयोग किये जाने के लिये कहा। बैठक में राजस्व संबंधी नक्शों, रिकार्ड का डिजिटाइजेशन और अन्य कार्यों की भी समीक्षा की गयी। प्रमुख सचिव श्री हरिरंजन राव ने सी.एम. हेल्पलाइन, लोक सेवा गारंटी अधिनियम में अधिसूचित सेवाओं का समय-सीमा में निराकरण नहीं होने पर जवाबदार अधिकारी-कर्मचारी के विरुद्ध कठोर कार्रवाई करने के निर्देश दिये।


aaप्रदेश में रेत हॉर्वेस्टिंग और विपणन की नीति बनेगी


4 Aug 2017

प्रदेश में रेत हॉर्वेस्टिंग की प्रस्तावित व्यवस्था के लिये नागरिकों से 10 अगस्त, 2017 तक सुझाव आमंत्रित किये गये हैं। सुझाव खनिज विभाग की वेबसाइट पर प्रस्तुत किये जा सकते हैं। प्रदेश में नदी की परिस्थितिकी के अनुकूल रेत हॉर्वेस्टिंग और विपणन नीति निर्धारण के संबंध में पिछले दिनों 21 जुलाई को हुई कार्यशाला में रेत नीति पर विचार करने भूगर्भ-शास्त्री, निजी व्यवसायी, रेत व्यापारियों के पक्षकार, विभागीय वरिष्ठ अधिकारी तथा तकनीकी विशेषज्ञ शामिल हुए थे। कार्यशाला के बाद प्रदेश में इसके लिये 4 मॉडल तैयार कर अनुशंसाएँ की गयी हैं, जिनके आधार पर रेत हॉर्वेस्टिंग नीति प्रस्तावित की गयी है। कार्यशाला में इस बात पर सहमति व्यक्त की गयी कि रेत की हॉर्वेस्टिंग वैज्ञानिक पद्धति से हो, केवल उतनी ही मात्रा में हो, जितनी की नदी की परिस्थितिकी को बिना नुकसान पहुँचाये हो सके। नदी पर रेत की स्थिति अलग-अलग हो सकती है। इन स्थितियों के अनुरूप इनका निर्धारण भी वैज्ञानिक पद्धति से किया जाये। कार्यशाला में उपभोक्ता को मिलने वाली रेत के मूल्य को नियंत्रित करने पर भी विचार किया गया और अनुशंसाएँ की गयीं। रेत हॉर्वेस्टिंग और विपणन के लिये 4 मॉडल की अनुशंसा की गयी है। इसमें प्रथम मॉडल प्रदेश की वर्तमान व्यवस्था, द्वितीय मॉडल तेलंगाना तथा तृतीय मॉडल छत्तीसगढ़ राज्य की प्रचलित व्यवस्था शामिल है। कार्यशाला में प्रस्तावित चौथे मॉडल में प्रस्तावित किया गया है कि असंचालित खदानों में उपलब्ध रेत की मात्रा का पुनर्मूल्यांकन किया जाये। जो खदानें अभी असंचालित हैं, उन्हें निरस्त कर शासन और निगम द्वारा पर्यावरण एवं अन्य स्वीकृतियाँ प्राप्त कर पूर्व पद्धति से ई-ऑक्शन द्वारा 6 माह में एक करोड़ घन मीटर रेत उपलब्ध कराने की व्यवस्था हो। निगम द्वारा लगभग 50 लाख घन मीटर रेत का खनन मॉडल नम्बर-2 तेलंगाना राज्य के अनुसार हो। साथ ही बड़े शहरों इंदौर, भोपाल, जबलपुर एवं ग्वालियर में बीआरटीएस के समान रेत परिवहन कम्पनियों का गठन कर रेत का परिवहन किया जाये। इसी प्रकार रेत हॉर्वेस्टिंग के लिये रेत खनन के स्थान पर रेत हॉर्वेस्टिंग करने, सतर्कता एवं प्रवर्तन, वाहन ट्रेकिंग, नाका और तौल-काँटा की व्यवस्था हो। नाके पर पीपीपी मॉडल पर व्यवस्था किये जाने का भी सुझाव दिया गया है।


aaजनसमुदाय की मांगों को प्राथमिकता से वार्षिक योजना में शामिल करें - कलेक्टर श्री खाडे


4 Aug 2017

आगामी वित्तीय वर्ष 2018-19 की विकेन्द्रित जिला योजना तैयार करने के लिए कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आज विभिन्न विभागों के जिला अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया गया । कलेक्टर श्री सुदाम खाडे ने इस दौरान उपस्थित सभी विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे ग्रामीणों व जनसमुदाय की मांग को भी अपने अपने विभाग में जिला योजना के प्रस्ताव तैयार करते समय प्राथमिकता से शामिल करें। उन्होंने कहा कि जनसुनवाई एवं सी.एम.हेल्पलाइन में प्राप्त आवेदनों में से सैकड़ो आवेदन ग्रामीण व नगरीय क्षेत्र में जनसमुदाय की सुविधाओं में वृद्धि के लिए निर्माण कार्य कराने की मांग संबंधी होते हैं। ऐसी मांगों को वार्षिक जिला योजना के प्रस्तावों में शामिल कर लिया जाये तो उन नागरिकों को अगले वित्तीय वर्ष में काफी राहत मिलेगी। प्रशिक्षण में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री हरजिंदर सिंह एवं जिला योजना अधिकारी सहित विभिन्न विभागों के जिला अधिकारी भी मौजूद थे। कलेक्टर श्री खाडे ने अधिकारियों से कहा कि सही प्लानिंग के अभाव में शासन की योजनाएं असफल हो जाती हैं, अत: सभी अधिकारी नागरिकों की सुविधाओं को ध्यान में रखकर अगले वित्तीय वर्ष की वार्षिक योजना तैयार करें। उन्होंने कहा कि पूर्व में राज्य स्तर से जिलों की योजना तैयार की जाती थी जिसमें बहुत सी समस्यायें थीं। गत सात वर्षों से जिलों की योजनाएं ग्राम सभा, ग्राम पंचायत व जनपद पंचायत स्तर से तैयार होती हैं जिन्हें अंतिम रूप जिले स्तर पर दिया जाता है। उन्होंने कहा कि गत दिनों ग्रामोदय से भारत उदय अभियान के दौरान आयोजित ग्राम सभाओं में समुदाय की जो मांगें प्राप्त हुई हैं उन्हें पंचायतवार शामिल करते हुए जिला योजना में शामिल किया जाये। कलेक्टर श्री खाडे ने कहा कि निकट भविष्य में वे एक एक विभाग के जिला अधिकारी के साथ बैठ कर संबंधित विभाग की जिला योजना पर विस्तार से चर्चा करेंगे।


aaराज्य मंत्री श्री जोशी द्वारा एम्स के मरीजों के परिजन के लिए खिचड़ी सेवा का शुभारंभ


4 Aug 2017

गुरूद्वारा श्री गुरूतेग बहादुर साहेब साकेत नगर द्वारा प्रतिदिन एम्स में भर्ती मरीजों के परिजन को नि:शुल्क खिचड़ी वितरित की जायेगी। तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने खिचड़ी सेवा का शुभारंभ किया। उन्होंने सिख समाज द्वारा संचालित लंगर व्यवस्था की भी सराहना की। श्री जोशी ने कहा कि मनुष्य का जीवन परमार्थ और सेवा के लिए है। सिख समुदाय इस अवधारणा से सेवा कार्यों में सदैव सबसे आगे रहा है। डायरेक्टर एम्स डॉ. मधुसूदन नागरकर ने कहा कि खिचड़ी-सेवा में संस्थान द्वारा पूरा सहयोग किया जाएगा। उन्होंने बताया कि संस्थान में गरीब हो या अमीर, सभी का इलाज और देखभाल समान रूप से की जाती है। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि और सिख समाज के प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaबाग प्रिंट ने अमेरिका वासियों का फिर मन मोहा


4 Aug 2017

विश्व में अपनी पहचान बना चुकी मध्यप्रदेश की बाग हस्तशिल्प कला ने एक बार फिर अमेरिका में लोगों का मन मोहा है। यह पहला मौका है कि भारत की ओर से धार जिले के बाग कस्बे की प्रसिद्ध हस्तशिल्प कला का अमेरिका में दूसरी बार प्रदर्शन किया गया है। हाल ही में अमेरिका के सेन्टा फे शहर में हुए अंतर्राष्ट्रीय फोकआर्ट मार्केट में भारत की ओर से राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त मोहम्मद युसूफ खत्री ने परम्परा गत आदिवासी हस्त कला का परचम फहराया। इस प्रदर्शन-सह-बिक्री आयोजन में विश्‍व के 90 देशों ने भाग लिया। फोक आर्ट मार्केट की निदेशक साचिको उमी ने बाग प्रिंट की सराहना करते हुए कहा कि इसकी बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए कलाकारों को आगे मौके दिये जाने चाहिये। मोहम्मद युसूफ खत्री ने अमेरिका की भौगोलिक एवं सांस्कृतिक परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए आधुनिक एवं परम्परागत परिधान डिजाइन किये थे। इनकी प्रदर्शनी में काफी लोकप्रियता रही। तीन दिवसीय प्रदर्शनी में श्री युसूफ के सिल्क स्कार्फ, स्टोल, टेबल रनर, बेम्बू मेट की काफी माँग रही। विभिन्न देशों में श्री युसूफ के बाग प्रिंट को मिली है सराहना मोहम्मद युसूफ खत्री वर्ष 2009 में भी अमेरिका के फोट आर्ट मार्केट में अपनी हस्तकला का यादगार प्रदर्शन कर चुके हैं। उन्होंने बारर्सिलोना स्पेन में वर्ष 1991, हेनोवर जर्मनी के वर्ल्ड एक्सपो 2000, मार्टेनिक फ्रांस 2005, बारर्सिलोना स्पेन में वर्ल्ड एक्सपो 2005, बेहरीन में सुकल हिन्द फेस्टिवल 2006, बेल्जियम के ब्रुसेल्स में फेस्टिवल ऑफ इंडिया 2006, इटली के मिलान में मेकेफेयर 2009, कोलम्बिया के बगोटो शहर में आर्टिजनों हैण्डीक्राफ्ट फेयर 2009, मिनाल इटली फेयर 2010, अर्जेंटीना के ब्यूनिसआयर्स में भारत महोत्सव 2011 सहित देश के कई नगरों में अपनी कला का जीवंत प्रदर्शन कर चुके हैं।


aaप्रधानमंत्री आवास में दतिया प्रदेश में अव्वल, देश में पांचवें स्थान पर


4 Aug 2017

जनसंपर्क, जल-संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज आवास क्षेत्र में श्रेष्ठ कार्य के लिए पुरस्कार प्रदान किए। दतिया जिला प्रधानमंत्री आवास योजना में औसत के आधार पर प्रदेश में अव्वल स्थिति और देश में पांचवें स्थान पर है। मंत्री डॉ. मिश्र ने आज जिला पंचायत दतिया के सभाकक्ष में पंचायत प्रतिनिधियों एवं जिले के अधिकारियों के समक्ष हितग्राहियों को प्रोत्साहित कर उनकी उपलब्धियों के लिए उन्हें पुरस्कृत किया। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा कि मेरा संकल्प है कि दतिया जिला विभिन्न योजनाओं में देश में अव्वल बने, खासकर प्रधानमंत्री आवास योजना में प्रथम स्थान पर आने के लिए सभी अधिकारी संकल्पित हों। संकल्प मजबूत रहेगा तो प्रथम स्थान अवश्य प्राप्त होगा। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने अनेक हितग्राहियों को लाभान्वित किया। इनमें नर्मदा सोनी को श्रवण यंत्र, आठ व्यक्तियों को राष्ट्रीय परिवार सहायता और मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में दो हितग्राहियों को लाभान्वित किया गया। लाड़ली लक्ष्मी योजना के तहत तीन, स्नेह सरोकार के अंतर्गत दो हितग्राहियों, उज्जवला योजना के अंतर्गत पाँच गैस कनेक्शन, अनसूचित जनजाति अत्याचार निवारण के तहत तीन, प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत 40 हितग्राहियों को लाभान्वित किया गया। मंत्री डॉ. मिश्र ने 101 हितग्राहियों को प्रधानमंत्री आवास की चाबी, चार हितग्राहियों को मत्स्य बीज, आठ हितग्राहियों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन, तीन हितग्राहियों को विवाह सहायता, 10 व्यक्तियों को बंदूक के लायसेंस, तीन महिलाओं को ड्रायविंग लायसेंस, मुख्यमंत्री कृषि स्थाई पंप योजना अंतर्गत पांच हितग्राहियों और पशुपालन विभाग के छह हितग्राहियों को लाभान्वित किया। इसी तरह 20 हितग्राहियों को बैंकों के माध्यम से एक-एक लाख रुपए भवन निर्माण के लिए प्रदान किए गए। मंत्री डॉ. मिश्र ने छात्र-छात्राओं को निःशुल्क गणवेश एवं पुस्तकें प्रदान कीं। ग्राम पंचायतों को मिले पेयजल टैंकर्स जनसंपर्क, जल-संसाधन, जनसम्पर्क एवं संसदीय कार्य विभाग मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने ग्राम पंचायतों में पेयजल की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए विधायक निधि से निर्मित आठ टेंकर्स विभिन्न ग्राम पंचायतों को प्रदान किए। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायतों में पानी की किल्लत न हो इस उद्देश्य से पंचायतों की मांग अनुसार टेंकर्स दिए जा रहे हैं।


aaरक्षाबंधन से व्यसन मुक्ति के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा : मंत्री श्रीमती चिटनीस


3 Aug 2017

महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस ने कहा है कि समाज में बढ़ रही नशे की आदत से लोगों को मुक्त कराने के लिए रक्षाबंधन से व्यसन मुक्ति के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा। इसमें 'सशक्त परिवार-सशक्त देश'' की अवधारणा के तहत रक्षाबंधन पर बहनें अपने भाइयों से शराब , ध्रूमपान तथा अन्य व्यसनों को त्यागने के लिए प्रेमपूर्वक वचन प्राप्त करेंगी। यह अभियान 'बहन की विनती अपने प्यारे भाई से ' के संकल्प के रुप में चलाया जाएगा। मंत्रालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में श्रीमती चिटनीस ने बताया कि जन जागरण अभियान के अंतर्गत बहनों को संकल्प पत्र उपलब्ध कराया जा रहा है। इसमें बहनों द्वारा भाइयों से रक्षाबंधन की पूजा की थाली में कभी नशा नहीं करने का संकल्प रखने की हकपूर्वक मांग है। संकल्प पत्र में बहनों की ओर से भाइयों के लम्बे , स्वस्थ , खुशहाल, सफल और सार्थक जीवन की प्रार्थना की गई है। श्रीमती चिटनीस ने कहा कि नशा मुक्ति के लिए दबाव की तुलना में प्रभाव अधिक कारगर है। परिवार का स्नेह, सत्कार और भाइयों द्वारा बहनों को दिया नशा छोड़ने का संकल्प व्यसन मुक्ति की दिशा में सकरात्मक वातावरण निर्मित करेगा। श्रीमती चिटनीस ने बताया कि लोगों की विचार प्रक्रिया में सकारात्मक बदलाव लाना इस जन-जागरण अभियान का मुख्य उद्देश्य है। अभियान जन्माष्टमी तक चलाया जाएगा। संकल्प पत्र आंगनवाड़ी, स्कूल-कॉलेज, पंचायतों और नगरीय निकायों में उपलब्ध कराए जा रहे हैं। संकल्प पत्र का प्रारुप मंदिरों, राखी की दुकानों और अन्य जन-सुलभ स्थानों पर भी प्रदर्शित किया जायेगा।


aaपड़ोसी राज्यों से आने वाले यात्री संक्रामक रोगों के प्रति सतर्कता बरतें


3 Aug 2017

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री रूस्तम सिंह ने स्वाइन फ्लू प्रभावित राज्यों से आने वाले लोगों से विशेष सतर्कता बरतने की अपील की है। श्री सिंह ने कहा है कि प्रदेश के निकटवर्ती महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और गुजरात में पिछले एक माह में स्वाइन फ्लू के प्रकरण बढ़े हैं। लक्षण होने पर तुरन्त जाँच करवायें प्रदेश के निकटवर्ती राज्यों से आने वाले यात्रियों को यदि स्वाइन फ्लू के लक्षण जैसे सर्दी, जुकाम, खाँसी, गले में खराश, सिरदर्द और बुखार के साथ यदि सांस लेने में तकलीफ हो तो तत्काल शासकीय अस्पताल में जाकर पल्स ऑक्सीमीटर से तुरन्त अपनी जाँच करवायें। यदि स्वाइन फ्लू बीमारी पायी जाती है, तो सारे एहतियात बरतते हुए पूर्ण इलाज करवायें। स्वाइन फ्लू (एच1एन1) वायरस संक्रमण से होने वाली बीमारी है। सामान्यत: इसका संक्रमण संक्रमित व्यक्ति की छींक, खांसी आदि के सम्पर्क में आने से होता है। स्वाइन फ्लू का संक्रमण जुलाई से फरवरी माह के बीच ज्यादा सक्रिय रहता है। इस अवधि में लक्षण मिलने पर लापरवाही न बरतें, चिकित्सक की सलाह अवश्य लें। स्वास्थ्य विभाग द्वारा दैनिक समीक्षा स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्वाइन फ्लू, मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया की प्रभावी रोकथाम के लिये रोज समीक्षा की जाकर उपयुक्त कदम उठाये जा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग, नगरीय प्रशासन, गैस राहत विभाग के साथ समन्वय स्थापित कर रोकथाम के प्रयास कर रहा है। लार्वा विनष्टीकरण के लिये गठित टीमें घरों में जाकर सर्वेक्षण कर रही हैं। प्रभावित मरीजों के घर के आसपास विशेष सतर्कता बरती जा रही है।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा पूर्व मंत्री श्री गहलोत के निधन पर शोक व्यक्त


3 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने पूर्व मंत्री श्री प्रभुदयाल गेहलोत के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। श्री चौहान ने अपने शोक संदेश में कहा कि स्वर्गीय श्री गेहलोत ने सार्वजनिक जीवन में सेवा और समर्पण का उत्कृष्ट उदाहरण प्रस्तुत किया। उन्होंने एक सात्विक कार्यकर्ता का जीवन जिया और कई महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों को निभाते हुए प्रदेश के विकास में योगदान दिया। श्री चौहान ने दिवंगत आत्मा की शांति और शोकाकुल परिजनों को दुख सहने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की।


aaराजस्व प्रकरण निराकरण के लिये शहडोल संभाग में चलेगा विशेष अभियान


3 Aug 2017

मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह ने शहडोल संभाग के सभी कलेक्टर को शत-प्रतिशत राजस्व प्रकरणों के निराकरण के लिये दो माह की समय-सीमा दी है। उन्होंने कहा है कि सभी राजस्व अधिकारी और मैदानी अमले के माध्यम से इस समयावधि में प्रकरणों का निराकरण करवायें। श्री सिंह आज शहडोल संभाग में राजस्व प्रकरणों के निराकरण की समीक्षा कर रहे थे। इस मौके पर प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरुण कुमार पाण्डे भी मौजूद थे। श्री सिंह ने कहा कि दो माह बाद वे पुन: संभाग-स्तर पर समीक्षा करेंगे। समीक्षा के दौरान प्रकरण लंबित पाये जाने पर जवाबदेह अधिकारियों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि राजस्व से संबंधित नामांतरण, सीमांकन, बँटवारा एवं अन्य राजस्व प्रकरण के निराकरण के लिये संभाग के सभी जिलों में कलेक्टर अभियान चलायें। श्री सिंह ने निर्देशित किया कि सभी कलेक्टर डायवर्जन, नजूल और अर्थ-दण्ड की शत-प्रतिशत राशि की वसूली करें। मुख्य सचिव श्री सिंह ने कमिश्नर और कलेक्टर्स को निर्देशित किया कि लोक सेवा गारंटी अधिनियम में अधिसूचित सेवाओं का निराकरण समय-सीमा में नहीं करवाने पर जवाबदेह अधिकारियों के विरुद्ध जुर्माना लगाना सुनिश्चित करें। उन्होंने मुख्यमंत्री की घोषणा को सर्वोच्च प्राथमिकता से पूर्ण करवाने के निर्देश भी दिये। प्रमुख सचिव ने निर्देश दिये कि सभी राजस्व अधिकारी राजस्व प्रकरणों के निराकरण से संबंधित कोई भी आदेश पारित करते हैं, तो उसे रिकार्ड में अनिवार्यत: दर्ज करवायें। उन्होंने बताया कि प्रदेश में मोबाइल एप से गिरावदी का कार्य शुरू किया गया है। अब शत-प्रतिशत गिरावादी मोबाइल एप से होगी। प्रदेश में 15 अगस्त से खसरा-खतौनी तथा नि:शुल्क वितरण अभियान चलाया जायेगा। बैठक में प्रमुख सचिव लोक सेवा श्री हरिरंजन राव, राजस्व सचिव श्री पी. नरहरि, आयुक्त भू-अभिलेख श्री एम.के. अग्रवाल, आयुक्त राजस्व श्री रजनीश श्रीवास्तव और अपर आयुक्त श्री मधुकर आग्नेय उपस्थित थे।


aaजिला सड़क सुरक्षा समिति में नोडल विभाग के अधिकारी की उपस्थिति सुनिश्चित हो


3 Aug 2017

पुलिस प्रशिक्षण एवं शोध संस्थान में उप पुलिस महानिरीक्षक श्री इन्दुप्रकाश अरजरिया की अध्यक्षता में आज मध्यप्रदेश राज्य सड़क सुरक्षा क्रियान्वयन समिति के नोडल अधिकारियों की बैठक हुई। बैठक में श्री अरजरिया ने पिछली राज्य स्तरीय बैठक की कार्यवाही की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने संबंधित विभागों के नोडल अधिकारी को अभी तक की गई कार्यवाही की प्रगति को एक सप्ताह में प्रस्तुत करने को कहा। श्री अरजरिया ने जिला स्तर पर होने वाली सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में नोडल विभाग के अधिकारियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिये। सहायक पुलिस महानिरीक्षक श्री संतोष कोरी और श्री महेन्द्र जैन भी उपस्थित थे। बैठक के पहले श्री अरजरिया ने सभी नोडल अधिकारियों से परिचय प्राप्त किया।


aaभाइयों को लेना होगा नशे से दूर रहने का संकल्प


2 Aug 2017

रक्षा बंधन पर बहनें अपने भाइयों से सभी प्रकार के नशे से दूर रहने का वचन मांगेगी। संचालनालय महिला सशक्तिकरण ने इसके लिये अनूठी पहल की है। “ सशक्त परिवार सशक्त देश ’’ पहल के अंतर्गत पूरे प्रदेश में सकल्प पत्र भेजे जा रहे है। सभी सांसदों, विधायकों, जिला पंचायत, जनपद पंचायत अध्यक्षों, महापौर, पार्षद, कालेज स्कूलों तक पहंचाये जा रहे है। सभी भाइयों तक यह संकल्प पत्र पहुंचेगा। इसे बहनों की पूजा की थाली में रखना होगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने गत दिवस मंत्रालय में संकल्प पत्र का विमोचन किया। मुख्यमंत्री ने नवाचारी पहल की सराहना की। उन्होंने कहा कि छोटे-छोटे प्रयासों से बने उद्देश्य पूरे होते हैं। महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस इस अवसर उपस्थित थी।


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने किया आशा कार्यकर्ताओं को सम्मानित


2 Aug 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने दक्षिण-पश्चिम विधानसभा क्षेत्र की आशा कार्यकर्ताओं को शाल-श्रीफल और प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित किया। श्री गुप्ता ने कहा कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की योजनाओं को जन-सामान्य तक पहुँचाने में आशा कार्यकर्ताओं का महत्वपूर्ण योगदान है। श्री गुप्ता ने कहा कि आपके प्रयास से ही प्रदेश में मातृ एवं शिशु मृत्यु पर में कमी लायी जा सकती है। उन्होंने कहा कि काम तो करना ही है, इसलिए हंसते हुए करें तो मरीजो के साथ ही अपना स्वास्थ्य भी बेहतर रहेगा। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaडिफाल्टर वक्फ कमेटियों को हटाया जायेगा


2 Aug 2017

पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्रीमती ललिता यादव ने निर्देश दिए है कि वक्फ की डिफाल्‍टर कमेटियों को शीध्र हटाया जाये। श्रीमती यादव मध्यप्रदेश वक्फ बोर्ड की समीक्षा कर रही थी। उन्होंने कहा कि धारा 54 के प्रकरणों को लोक अदालत के माध्यम से निराकृत करें। पारदर्शिता की दृष्टि से सभी न्यायालीन प्रकरण को ऑनलाइन करने की व्यवस्था करें। राज्य मंत्री ने वक्फ बोर्ड की सम्पत्तियों को अतिक्रमण से मुक्त करने के प्रयासों पर जोर देते हुए कहा कि वक्फ की कृषि भूमि के अतिक्रमण की वसूली राशि तहसीलदार द्वारा वक्फ समिति में जमा कराई जाना सुनिश्चित किया जाये साथ ही वक्फ बोर्ड की ऐसी सम्पत्ति जो खाली हो उस पर फेंसिग कर बोर्ड लगाने के निर्देश दिए। मंत्री ने कहा कि अब सम्पत्ति संबंधी शिकायत प्रस्तुत करने पर शपथ पत्र दिया जाना अनिवार्य होगा। वक्फ बोर्ड की पंजीकृत सम्पत्तियों को वेबसाइट पर दर्ज करवाया जाये तथा सर्वे कर वर्तमान में बोर्ड की सम्पत्तियों पर अतिक्रमण के संबंध में प्रभावी कार्रवाई की जाये। अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री ने कहा कि न्यायालीन प्रकरणों के लिए वक्फ बोर्ड तथा कमेटी के एक ही वकील हों। लंबित प्रकरणों का कार्य-योजना तैयार कर शीध्र निराकरण करें। समीक्षा के दौरान मध्यप्रदेश वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष श्री शौकत मोहम्मद खान और सचिव पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण श्री रमेश थेटे उपस्थित थे।


aaदेवास में उद्योगों को जल देने विकासकर्ता चयन की मंजूरी


1 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की अध्यक्षता में आज हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में देवास में उद्योगों को जल प्रदाय करने के लिए स्विस चैलेंज प्रक्रिया में पुनर्संरचित योजना के तहत विकासकर्ता का चयन करने की अनुमति दी गयी। इस संबंध में सभी कार्यवाहियां एमपी एसआईडीसी लिमिटेड द्वारा की जायेगी। मंत्रि-परिषद ने महाधिवक्ता मध्यप्रदेश/अतिरिक्त महाअधिवक्ता/ उप महा अधिवक्ता/ शासकीय अधिवक्ता एवं उप शासकीय अधिवक्ता जबलपुर, इंदौर एवं ग्वालियर में पदस्थ विधि पदाधिकारियों, जिनकी नियुक्ति मध्यप्रदेश शासन की ओर से माननीय उच्च न्यायालय में शासन का पक्ष समर्थन के लिए की जाती है, को देय मानदेय में पुनरीक्षण की स्वीकृति दी। अब महाधिवक्ता को पुनरीक्षित निश्चित मासिक मानदेय 1 लाख 80 हजार, अतिरिक्त महाधिवक्ता को 1 लाख 75 हजार, उप महाधिवक्ता को 1 लाख 60 हजार, शासकीय अधिवक्ता को 1 लाख 25 हजार और उप शासकीय अधिवक्ता को 1 लाख रुपए मिलेगा। मंत्रि-परिषद ने मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग में प्रधान आरक्षक के चार पदों के सृजन की मंजूरी दी। इनका वेतनमान रुपए 5200-20200+2400 ग्रेड पे होगा। मंत्रि-परिषद ने मंत्रालय के आठ तकनीकी कर्मचारियों को मंत्रालय के सहायक ग्रेड-3 के समान एक अप्रैल 2006 से द्वितीय समयमान वेतनमान रुपए 5500-9000 स्वीकृत करने की मंजूरी दी। मंत्रि-परिषद ने मध्यप्रदेश मंत्रालय में कार्यरत दफ्तरी को देय विशेष वेतन राशि 50 रुपए को पुनरीक्षित कर 250 रुपए प्रतिमाह करने की मंजूरी दी है। मंत्रि-परिषद ने किसान-कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के अधीन भारत सरकार सहायतित नेशनल मिशन ऑन एग्रीकल्चरल एक्सटेंशन एंड टेक्नालॉजी के सबमिशन ऑन एग्रीकल्चरल एक्सटेंशन 'आत्मा' को वर्ष 2017-18 में योजना एवं स्वीकृत कुल 1358 पदों की निरंतरता की स्वीकृति देने का निर्णय लिया। मंत्रि-परिषद ने मध्यप्रदेश राज्य सहकारी तिलहन उत्पादक संघ के सेवायुक्तों के राज्य शासन के विभिन्न विभागों में संविलियन की योजना में वृद्धि करने का निर्णय लिया। यह वृद्धि संविलियन के लिए शेष 260 सेवायुक्तों के लिए 10 अगस्त 2017 से छ: माह बढ़ाकर 10 फरवरी 2018 की गयी है।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने तेन्दूपत्ता संग्राहक चुन्नी और बुधिया को पहनाई चप्पल


1 Aug 2017

सतना जिले के वन ग्राम जवारिन की तेन्दूपत्ता संग्राहक श्रीमती चुन्नी खैरवार पति ददुआ खैरवार और ग्राम छरी की श्रीमती बुधिया मवासी पति श्री शिवमारन मवासी को अब पैरों में छाले नहीं पड़ेंगे। न ही, जंगल में साफ और ठण्डा पानी पीने के लिये भटकना पड़ेगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार 31 जुलाई 2017 को ग्राम बरौंधा पहुँचकर इन्हें अपने हाथों से चप्पल पहनाई और सेलो की पानी की बोतल दी। वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार ने भी तेन्दूपत्ता संग्राहकों को चप्पल पहनाई एवं सेलो की पानी की बॉटल दी। उपस्थित जन समुदाय उस समय भाव-विभोर हो गया जब मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने इनके पैरों मे चप्पल पहनाई। तेन्दूपत्ता संग्राहक श्रीमती चुन्नी खैरवार और श्रीमती बुधिया मवासी मुख्यमंत्री की आत्मीयता से काफी प्रभावित हुईं और उन्हें आशीर्वाद दिया। तेन्दूपत्ता संग्राहक श्रीमती चुन्नी खैरवार लघु वनोपज समिति, कौहारी और श्रीमती बुधिया मवासी पाथरकछार लघु वनोपज समिति के क्षेत्र के वन ग्रामों में जीवन-यापन करती हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने तेन्दूपत्ता संग्राहकों के लिये प्रदेश में चरणपादुका योजना का शुभारंभ सोमवार 31 जुलाई को ग्राम बरौधा जिला सतना से किया। मुख्यमंत्री ने 18 अप्रैल 2017 को उमरिया में घोषणा की थी कि तेन्दूपत्ता संग्राहकों के लिये चरणपादुका योजना प्रदेश में लागू की जाएगी। प्रत्येक तेन्दूपत्ता संग्राहक परिवार की एक महिला को चप्पल और एक पुरुष को जूता पहनाया जाएगा तथा पानी की बोतल नि:शुल्क दी जाएगी। योजना से 21.50 लाख से अधिक तेन्दूपत्ता संग्राहक लाभान्वित होंगे।
तेन्दूपत्ता संग्राहकों को मिला 1.44 करोड़ रूपये का बोनस चित्रकूट में 31 जुलाई को तीन रेंज की 13 समितियों के 9,868 तेन्दूपत्ता संग्राहकों को एक करोड़ 44 लाख रूपये बोनस दिया गया। चरणपादुका योजना का क्रियान्वयन राज्य लघु वनोपज सहकारी संघ द्वारा किया जा रहा है। संघ के प्रबंध संचालक श्री जव्वाद हसन ने बताया है कि वर्ष 2017 में प्रदेश में 23 लाख 36 हजार मानक बोरा तेन्दूपत्ता संग्रहण हुआ है जिसका मूल्य लगभग 1338 करोड़ रुपये है। व्यय घटाने के बाद लागत की 70 प्रतिशत राशि तेन्दूपत्ता संग्राहकों को बोनस के रूप में वर्ष 2018 में वितरित की जाएगी। यह राशि करीब 500 करोड़ रुपये होगी। बोनस की यह राशि संग्राहकों को देय पारिश्रमिक रुपये 292 करोड़ के अतिरिक्त होगी।


aaफीस नियमन के प्रस्तावित कानून का प्रारूप लगभग तैयार : मुख्यमंत्री श्री चौहान


1 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि फीस नियमन के प्रस्तावित कानून का प्रारूप लगभग तैयार है। यह प्रयास है कि व्यवहारिक और संतुलित व्यवस्था बने जिसमें शिक्षण की संस्थाओं द्वारा पालकों का शोषण नहीं किया जा सके। साथ ही शिक्षा की अच्छी व्यवस्था का मार्ग भी अवरूद्ध नहीं हो। श्री चौहान आज यहाँ ई – टीवी द्वारा आयोजित सुशिक्षा कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाली पाँच विभूतियों का सम्मान किया। इनमें कुमारी मुस्कान अहिरवार को दो लाख रूपये और श्री ईश्वरी प्रसाद तिवारी, श्री संजय राठौर, श्री चंदन पाल और दिव्यांग श्री वीरेन्द्र सर को एक – एक लाख रूपये सम्मान निधि देने की घोषणा भी की। भोपाल की बस्ती दुर्गानगर में 9 वर्षीय बालिका कुमारी मुस्कान द्वारा संचालित पुस्तकालय के लिये कक्ष की व्यवस्था करवाने के निर्देश दिये। इस अवसर पर राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने समाज के प्रबुद्ध, सक्षम और जनसेवियों का आव्हान किया कि गरीब बच्चों की जिंदगी संवारने और विद्यालयों की व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने के प्रयासों में सहयोग के लिये आगे आयें। स्कूल की जिम्मेदारी लेकर उसकी बुनियादी व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने में सहयोग दें। सुविधानुसार विद्यालयों में जाकर शिक्षा की गुणवत्ता को बढ़ाने में सहयोग करें। आगामी 26 अगस्त को आयोजित होने वाले अभियान मिल बाँचें मध्यप्रदेश के तहत स्कूलों में जायें। उन्होंने अपील की है कि भिक्षावृत्ति और पन्नी बीनने में बचपन को बिखरने नहीं दें। ऐसे बच्चों के रहने, खाने, वस्त्र, शिक्षा-दीक्षा की संपूर्ण व्यवस्था राज्य सरकार द्वारा करवाये जाने की व्यवस्था है। जिले के कलेक्टर योजना के प्रभारी हैं। नागरिकगण ऐसे बच्चों के जीवन को संवारने में मदद करें। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में बताया कि मुख्यमंत्री मेधावी छात्रवृत्ति योजना में संशोधन करवाकर ड्रॉप लेने वाले मेधावी विद्यार्थियों को लाभान्वित करवाने का संशोधन हो गया है। उन्होंने बेरोजगारी को दूर करने, कौशल उन्नयन की आवश्यकता, ग्लोबल स्किल पार्क, युवाओं में उद्यमिता को बढ़ाने, छात्र संघ चुनाव और फीस नियमन आदि विषयों पर भी विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम में शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने वाली शिक्षण संस्थाओं को भी सम्मानित किया।


aaराजकीय परिसम्पत्तियों के लिये मंत्रि-परिषद समिति का गठन


31 July 2017

वित्त एवं वाणिज्यिक कर मंत्री श्री जयंत मलैया की अध्यक्षता में राज्य के बाहर स्थित राजकीय परिसम्पत्तियों के प्रशासन, प्रबंधन, संरक्षण, निपटारे, रख-रखाव, अवैध कब्जे/अतिक्रमण से मुक्त करने तथा अन्य सुसंगत नीतिगत निर्णय के लिये मंत्रि-परिषद समिति का गठन किया गया है। वन, योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री श्री गौरीशंकर शेजवार, राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, लोक निर्माण, विधि एवं विधायी कार्य मंत्री श्री रामपाल सिंह तथा पर्यटन एवं संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा समिति के सदस्य होंगे। प्रमुख सचिव, लोक निर्माण इस समिति के सदस्य सचिव होंगे।


aaराजस्व मंत्री द्वारा तीन कार्यों का भूमि-पूजन


31 July 2017

राजस्व, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने तीन कार्यों का भूमि-पूजन किया। श्री गुप्ता ने वार्ड 27 में एलआईजी 173 के सामने कोटरा में सी.सी. रोड और वार्ड 26 में शासकीय विद्यालय 25वीं बटालियन की वाउण्ड्रीबाल का भूमि-पूजन किया।


aaकिसी भी नगरीय निकाय को अंडर एस्टीमेट नहीं करें


31 July 2017

नगरीय निकाय निर्वाचन में शांतिपूर्ण मतदान के लिये पर्याप्त पुलिस बल लगायें। किसी भी नगरीय निकाय को अंडर एस्टीमेट नहीं करें। राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री आर. परशुराम ने यह बात 44 नगरीय निकाय में होने वाले चुनाव में फोर्स डिप्लॉयमेंट की समीक्षा के दौरान कही। बैठक में अपर मुख्य सचिव गृह श्री के.के. सिंह और सचिव राज्य निर्वाचन आयोग श्रीमती सुनीता त्रिपाठी भी उपस्थित थीं। श्री परशुराम ने कहा कि सीमावर्ती क्षेत्रों के नगरीय निकायों में विशेष ध्यान दें। अवैध शराब की बिक्री को कड़ाई से रोका जाये। क्रिटिकल और वल्नरेबल मतदान केन्द्रों में पर्याप्त पुलिस फोर्स डिप्लॉय किया जाये। पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला ने कहा कि क्रिटिकल मतदान केन्द्रों में 4 और सामान्य मतदान केन्द्रों में 3 पुलिस जवान डिप्लॉय किये जायेंगे। उन्होंने बताया कि इसके साथ ही रिजर्व पुलिस बल भी रखा जायेगा। श्री शुक्ला ने कहा कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इन नगरीय निकायों की कानून व्यवस्था की समीक्षा भी करेंगे। उन्होंने कहा कि पुलिस बल के लिये 'डूज एण्ड डोन्ट्स'' के निर्देश भी जारी किये जायेंगे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान को एनएचडीसी ने सौंपा 374 करोड़ 46 लाख 24 हजार रुपये का लाभांश चैक


30 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को एनएचडीसी लिमिटेड के प्रबंध निदेशक श्री एम.ए.जी अंसारी ने आज वर्ष 2016-17 का लाभांश चैक मुख्यमंत्री निवास में सौंपा। इस अवसर पर बताया गया कि मध्यप्रदेश शासन और एनएचपीसी लिमिटेड का संयुक्त‍उद्यम एनएचडीसी लिमिटेड है। आलोच्य अवधि में 374 करोड़ 46 लाख 24 हजार रूपये मध्यप्रदेश शासन का लाभांश है। उल्लेखनीय है कि एनएचडीसी लिमिटेड की वर्ष 2000 में स्थापना हुई थी। यह मध्यप्रदेश राज्य का सबसे बड़ा जल विद्युत उत्पादन निगम है। इसकी दो परियोजनाएँ संचालित हैं। इंदिरा सागर एक हजार मेगावॉट और ओंकारेश्वर 520 मेगावॉट की परियोजनाएँ है।


aaचित्रकूट को धार्मिक पर्यटन क्षेत्र के रूप में विकसित किया जायेगा


30 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज सतना जिले के ग्राम मझगवां में अन्त्योदय-सह-स्वास्थ्य सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि चित्रकूट को धार्मिक पर्यटन क्षेत्र के रूप में विकसित किया जायेगा। मझगवां को नगर पंचायत का दर्जा मिलेगा और इस क्षेत्र के 106 गाँवो में 371 करोड़ रुपये की लागत से पाईप लाईन के माध्यम से सिंचाई की सुविधा मुहैया करायी जायेगी। श्री चौहान ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि चित्रकूट क्षेत्र में सख्ती से दस्यु उन्मूलन अभियान चलाया जाये और इस अंचल को पूर्णतः दस्यु मुक्त क्षेत्र बनाकर अमन और चैन स्थापित किया जाये। उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा कि डकैतों को किसी भी तरह से पनाह या मदद देने वालों के विरूद्ध भी कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जायेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि मझगवां मे मिनी स्टेडियम के निर्माण के साथ ही बहुती सागर बहुद्देशीय परियोजना एवं छोटे-छोटे बांध बनाकर पानी संग्रहण हेतु कार्य कराये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस क्षेत्र मे नाना जी देशमुख ने ग्राम उत्थान की दिशा मे महत्वपूर्ण कार्य प्रारंभ किये थे जिन्हें पूरा करने के सभी प्रयास होंगे। किसानों को सिंचाई का पानी मिले, इसके लिये बाणसागर का पानी किसानों के खेत तक पहुँचाया जायेगा ताकि इस क्षेत्र का पिछड़ापन दूर हो सके। उन्होंने कहा कि प्रदेश मे तेदूपत्ता संग्राहको के लिये चरण पादुका कार्यक्रम संचालित किया जायेगा ताकि कोई भी व्यक्ति नंगे पैर न रहे। साथ ही गरीब महिलाओं के लिये ठंडे पानी की उपलब्धता हेतु अभियान चलाकर कुप्पी भी प्रदान की जायेगी। इस 15 अगस्त के बाद घर-घर जाकर निःशुल्क खसरे एवं बी-1 का वितरण किया जायेगा। श्री चौहान ने राजस्व अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिये कि विवादित एवं अविवादित सभी प्रकार के प्रकरणों के निराकरण में तत्परता बरतें, इसमे किसी भी प्रकार की शिथिलता क्षम्य नही होगी। श्री चौहान ने कहा कि गरीबी रेखा के नीचे जीवन-यापन करने वाले परिवारों को 200 रूपये फ्लैट रेट पर बिजली की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जायेगी। आने वाले दो वर्षो मे प्रदेश मे 15 लाख गरीबों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान बनाने हेतु राशि प्रदान की जायेगी ताकि वर्ष 2022 तक कोई भी व्यक्ति बिना आवास का न रहे। किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य दिलाने के उद्देश्य से मूल्य स्थिरिकरण कोष बनाया जा रहा है, जिसके माध्यम से किसानों की ऐसी उपज की खरीदी शासन स्तर से की जायेगी जिसका समर्थन मूल्य किसान को न मिल रहा हो ताकि किसानों का उत्पादन बढे़ एवं खेती को लाभ का व्यवसाय बनाया जा सके। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम में 2449 हितग्राहियों को विभिन्न हितलाभ वितरित किये। इस अवसर पर आयोजित स्वास्थ्य शिविर मे 200 से अधिक लोगो का स्वास्थ्य परीक्षण और दवा वितरण किया गया। श्री चौहान ने मझगवां क्षेत्र के विभिन्न कार्यो का लोर्कापण और भूमिपूजन भी किया। कार्यक्रम में सांसद श्री गणेश सिंह, अल्पसंख्यक वित्त विकास निगम के अध्यक्ष श्री प्रदीप पटेल, जिला पंचायत अध्यक्ष सुश्री सुधा सिंह, विधायक श्री नारायण त्रिपाठी, पूर्व विधायक श्री सुरेन्द्र सिंह गहरवार, श्री नरेन्द्र त्रिपाठी, श्री विष्णुदत्त शर्मा, श्री रामदास मिश्रा, श्री लक्ष्मी यादव, श्री राम सिंह सहित जनप्रतिनिधि, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी एवं स्थानीय नागरिक उपस्थित थे


aaमैहर में संत शिरोमणि रविदास जी का भव्य मंदिर निर्माण तय समय में पूरा होगा


30 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मैहर में संत रविदास आश्रम पहुँचकर मंदिर में दर्शन किये और ब्रम्हलीन गुरू परमेश्वर प्रकाश जी की समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री ने आश्रम परिसर में संत शिरोमणि रविदास जी के भव्य मंदिर के निर्माण कार्य का अवलोकन भी किया। मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुरूप मंदिर का निर्माण दो करोड़ रूपये लागत से कराया जा रहा है। इस अवसर पर प्रभारी मंत्री श्री ओम प्रकाश धुर्वे, सांसद श्री गणेश सिंह, विधायक श्री नारायण त्रिपाठी, श्री रमेश पाण्डेय बम बम महाराज, जन-प्रतिनिधिगण सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर कहा कि संत शिरोमणि रविदास जी के चरणों में प्रणाम करने यहां आया हूँ। संत जी का भव्य मंदिर बनेगा। मंदिर निर्माण का कार्य तय समय में पूरा होगा। उन्होंने कहा कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी प्रदेश में संत रविदास महाकुम्भ का आयोजन होगा। स्थल का चयन विचार-विमर्श के बाद तय होगा। मुख्यमंत्री ने संत रविदास आश्रम में पीपल का पौधा रोपित किया। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के सतना आगमन पर स्थानीय हवाई पट्टी पर आयुष एवं जल-संसाधन राज्य मंत्री श्री हर्ष सिंह, सांसद श्री गणेश सिंह, महापौर सुश्री ममता पाण्डेय, श्री नरेन्द्र त्रिपाठी, जन-प्रतिनिधियों, कार्यकर्ताओं एवं स्थानीय लोगों ने आत्मीय स्वागत किया।


aaजनता की सहभागिता से ही पर्यावरण संरक्षण – मुख्यमंत्री श्री चौहान


29 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पर्यावरण संरक्षण में जनता को जोड़ कर किए गए प्रयास ही सफल है। समाज यदि तय कर ले तो वह एक दिन में 7 करोड़ 14 लाख पौधे लगा सकता है। नदी संरक्षण की अभूतपूर्व पहल कर सकता है। इन अभूतपूर्व सफलताओं का आधार समाज को आगे कर सरकार द्वारा किये गये प्रयास है। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ आर.सी.वी.पी नरोन्हा प्रशासन एवं प्रबंधकीय अकादमी के सभागार में राष्ट्रीय संगोष्ठी के उदघाटन सत्र को संबोधित कर रहे थे। राष्ट्रीय हरित अधिकरण द्वारा पर्यावरण पर राष्ट्रीय संगोष्ठी 2017 का दो दिवसीय आयोजन यहाँ किया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के कार्य अकेले सरकार नहीं कर सकती। समाज का साथ में खड़ा होना जरूरी है। प्रदेश में 2 जुलाई को हुआ वृक्षारोपण इसका प्रत्यक्ष प्रमाण है। नर्मदा नदी, वृक्षारोपण के प्रति ऐसा उत्सवी माहौल था कि पौध-रोपण करना गर्व का विषय बन गया था। पौध-रोपण में शामिल नहीं होना लोक लज्जा का कारण माना जाने लगा था। उन्होंने कहा कि पौध-रोपण कार्य निरंतर अलग-अलग स्थलों पर हर वर्ष चलेगा। प्रदेश नर्मदा नदी के संरक्षण के अभियान से नदियाँ बचाने का राज्य बना है। अगले वर्ष से ताप्ती, बेतवा और क्षिप्रा जैसी अन्य नदियों के संरक्षण के कार्य जन-सहभागिता से किये जायेंगे। उन्होंने कहा कि नर्मदा प्रदेश की जीवन-रेखा है। विद्युत, सिंचाई और पेयजल का स्त्रोत है। नर्मदा का प्रवाह कम नहीं होने दिया जायेगा। वृक्षारोपण के साथ ही नदी में जल-मल को रोकने के लिये नर्मदा किनारे के सभी 18 शहरों में सीवरेज प्लान्ट लगाने, पूजन सामग्री कुंडों में प्रवाहित करने, अंतिम संस्कार के लिए मोक्ष धाम और कचरे से ऊर्जा बनाने के प्रयास किये गये हैं। नर्मदा के दोनों तटों पर मदिरा का विक्रय बंद करवाया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय संस्कृति की मूल चेतना जड़, चेतन सभी को एक समान मानने और विश्व के कल्याण की है। इसीलिये पशुओं को देवी-देवताओं के साथ जोड़ कर आराधना की जाती है। गोर्वधन पूजा भी प्रकृति की उपासना ही है। यही चेतना सरकार का संकल्प है। ऐसा कोई उद्योग जो मानव, पशु-पक्षी जीवन के लिए खतरनाक है, प्रदेश की धरती पर नहीं लगेगा। उन्होंने कहा कि यह हर व्यक्ति का दायित्व है कि वह ऐसी धरती छोड़े, जो मानव और अन्य प्रजातियों को सुरक्षित रख सकें। उन्होंने कहा कि पर्यावरण के प्रति देश में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने नया वातावरण बनाया है। उन्होंने धरती को भावी पीढ़ियों के लिए सुरक्षित करने की सोच के साथ कार्य किया है। इसके प्रभावी परिणाम दिखने लगे हैं। मुख्यमंत्री ने नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल द्वारा पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में किए गए अभूतपूर्व प्रयासों की सराहना की। धरती को प्राणी मात्र के लिए सुरक्षित बनाए रखने के लिए ट्रिब्यूनल को कठोर दृष्टिकोण रखने की जरूरत बताई। उन्होंने आव्हान किया कि वनों, प्रकृति का संरक्षण सबकी जिम्मेदारी है। वन्य-प्राणियों के घर सुरक्षित रहे, साथ ही इंसान के घर भी नहीं टूटे इस दिशा में चिंतन किया जाये। उन्होंने आशा व्यक्त की कि संगोष्ठी का चिंतन पर्यावरण सरंक्षण के प्रयासों को नई दिशा देगा। मुख्यमंत्री ने आश्वस्त किया कि संगोष्ठी के निष्कर्षों को क्रियान्वित करने के प्रयासों में सरकार का पूरा सहयोग रहेगा। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री रमन सिंह ने कहा कि पर्यावरणीय चुनौतियों के प्रति सोच में परिवर्तन समय की जरूरत है। दृष्टिकोण कैसा हो, इस विषय पर चिंतन होना चाहिए। साल के वृक्ष का उदाहरण देते हुए बताया कि 20 वर्ष के चक्र में लगने वाला कीड़ा 18 लाख साल के पेड़ खत्म कर देता हैं। ऐसी पर्यावरणीय चुनौतियों के प्रति विकास और शोध की जरूरत है। उन्होंने कहा कि वनवासियों का वन के प्रति आसक्ति का आधार आजीविका है। वन संरक्षण के लिये वन के साथ उनके जुड़ाव को बढ़ाने के प्रयास जरूरी है। लघु वनोपज की समर्थन मूल्य पर खरीदी की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि टिश्यू कल्चर द्वारा पौध-रोपण से वनीकरण के प्रयासों पर विचार किया जाना चाहिये। वन हल्दी, मूसली आदि अनेक औषधीयाँ विलुप्त हो रही हैं। उनको लैब में तैयार कर वनवासियों को देने के प्रयासों पर विचार हो। उन्होंने कहा कि पेड़ लगाने को भारतीय संस्कृति में यज्ञ कराने के समान पुण्य का कार्य माना गया है। नदी साफ करना, जल और प्रदूषण रोकना, हर व्यक्ति की जिम्मेदारी है। इस लिए यह विचार किया जाना चाहिए कि जहाँ वन सुरक्षित है, वहाँ के रहवासी के लिए वन उनके विकास का माध्यम बने। वन संरक्षण के लिये उनको बर्बाद नहीं किया जाये। परियोजनाओं के प्रति पर्यावरणीय चिंतन भी समग्र दृष्टि से किया जाये। विद्युत उत्पादन की जल आधारित परियोजना का उल्लेख करते हुए कहा कि कुछ एकड़ में वृक्षों की रक्षा के लिए परियोजना 30 से 35 वर्षों से लंबित है। परियोजना यदि समय पर शुरू हो जाती तो कोयले से विद्युत उत्पादन से होने वाले प्रदूषण की भारी मात्रा में बचत हो जाती। उन्होंने इस दिशा में चिंतन का अनुरोध किया। उन्होंने मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह द्वारा पौध-रोपण की पहल की सराहना करते हुए कहा कि निर्णय लेने और क्रियान्वयन की विशिष्ट क्षमता उनमें है। डॉ. रमन सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पर्यावरण संरक्षण की क्रियात्मक पहल 5 करोड़ परिवारों को गैस कनेक्शन दिलवा कर की है। इस एक कार्य से 20 हजार करोड़ वृक्षों की रक्षा हुई है। इस दिशा में आगे बढ़ने के प्रयास जरूरी है। उन्होंने एन.जी.टी. के द्वारा पर्यावरण संरक्षण की दिशा में उठाये गये कदमों की सराहना करते हुए कहा कि इससे देश में पर्यावरणीय चेतना बनी है। संगोष्ठी के चिंतन को राज्य में लागू करने का आश्वासन दिया। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के चेयरमेन न्यायाधिपति श्री स्वतंत्र कुमार ने पर्यावरण संरक्षण के प्रति आग्रही बन कर प्रयासों की जरूरत बताई। उन्होंने कहा कि केवल सस्टेनेबल डेव्लेपमेंट के लिए पेड़ काटे जाने चाहिये वह भी तब जब एक पेड़ के बदले में 10 पेड़ लगाये जाये। उन्होंने कहा कि प्रकृति के साथ सम्मानीय व्यवहार जरूरी है। यदि प्रकृति का अपमान किया गया तो उसके परिणाम अत्यंत भयंकर होंगे। विगत दिनों की प्राकृतिक विभीषिकाएँ, इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है। प्रकृति से जिसकी भरपाई हो सके, उससे अधिक नहीं लिया जाना चाहिये। उन्होंने आव्हान किया कि पर्यावरण संरक्षण के लिये सारे विश्व को परिवार मानकर हर घर, गली, मोहल्ले, राज्य और देश में प्रयास होने आवश्यक है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण के प्रति भारत सरकार और ग्रीन ट्रिब्यूनल द्वारा किये जा रहे प्रयासों की विश्व में हर स्तर पर सराहना हो रही है। उनके निर्णयों-निष्कर्षों का सारी दुनिया के विकास में प्रयोग हो रहा है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि संगोष्ठी के निष्कर्ष क्षेत्र, देश और विश्व के लिये उपयोगी होंगे। प्रारंभ में राष्ट्रीय हरित अधिकरण क्षेत्रीय न्यायपीठ मध्य क्षेत्र के न्यायाधिपति श्री दिलीप सिंह ने क्षेत्र में पर्यावरणीय चेतना के विभिन्न विषय पर प्रकाश डाला। बताया कि एन.जी.टी. बैंच के प्रयासों से युवाओं में पर्यावरणीय उत्साह और जागरूकता बढ़ी है। उन्होंने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को मज़बूत बनाने की मध्यप्रदेश की पहल की सराहना की। उन्होंने बताया कि अधिकरण द्वारा आयोजित क्षेत्रीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के क्रम में पहली चेन्नई में हुई थी। भोपाल की संगोष्ठी दूसरी है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि संगोष्ठी का चिंतन पर्यावरण के बेहतर भविष्य का रोडमेप बनायेगा। आभार प्रदर्शन प्रमुख सचिव पर्यावरण श्री मलय श्रीवास्तव ने किया। संचालन सुश्री प्रतीक्षा द्वारा किया गया। अतिथियों को स्मृति-चिन्ह भेंट किये गये। अतिथियों द्वारा अकादमी परिसर में पौध-रोपण भी किया गया। संगोष्ठी का शुभारंभ दीप जलाकर से हुआ। कार्यक्रम में एन.जी.टी. सेंट्रल बैंच की स्मारिका का विमोचन और प्रदूषण नियंत्रण के क्षेत्र में विशिष्ट योगदान के लिए मध्यप्रदेश सरकार द्वारा वर्ष 2014-15 एवं 2015-16 के पुरस्कार औद्योगिक इकाइयों और नगर निकायों को दिये गये। संगोष्ठी में पर्यावरण मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, सेन्ट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के चेयरमेन श्री एस.पी.एस. परिहार, राजस्थान नदी घाटी प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री राम वेदरी और महाधिवक्ता मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय श्री पुष्पेन्द्र कौरव भी मौजूद थे।


aaबेसिक लाइफ सपोर्ट और फर्स्ट एड पर एक-दिवसीय कार्यशाला आज


29 July 2017

अमेरिकन हॉर्ट एसोसिएशन के विशेषज्ञ मध्यप्रदेश की विभिन्न खेल अकादमियों के प्रशिक्षकों और फिजियोथेरेपिस्ट को बेसिक लाइफ सपोर्ट और फर्स्ट एड के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारी तथा मार्गदर्शन प्रदान करेंगे। टी.टी. नगर स्टेडियम में 30 जुलाई को प्रात: 10 बजे ऑडियो-विजुअल हॉल में विशेषज्ञ प्रशिक्षणार्थियों को अंतर्राष्ट्रीय-स्तर के प्रशिक्षकों की तरह बेसिक लाइफ सपोर्ट एवं फर्स्ट एड की आधुनिक जानकारी देंगे।


aaसमर्थन मूल्य पर प्याज बेचकर शंकरलाल के परिवार को हुआ फायदा


29 July 2017

समर्थन मूल्य पर प्याज की खरीदी की व्यवस्था से अब किसान खेती को लाभकारी व्यवसाय बनाने की दिशा में अग्रसर हो रहे हैं। इसकी मिसाल बने हैं इंदौर जिले की सांवेर तहसील के ग्राम अजनोद के किसान। ग्राम अजनोद के किसान शंकरलाल पटेल पुत्र सुनील पटेल बताते हैं कि वो और उनके भाई तथा पिताजी मिलकर खेती करते हैं। सोयाबीन की फसल लेने के बाद इन्होंने दिसम्बर महीने में एक हेक्टेयर में प्याज रोपा जिसकी कुल लागत करीब एक लाख 20 हजार रुपये आयी । एक हेक्टेयर में करीब 360 क्विंटल प्याज का उत्पादन हुआ। इन्हें उम्मीद थी कि प्याज के अच्छे दाम मिलेंगे लेकिन ऐसा हुआ नहीं। किसान शंकरलाल के परिवार को चिंताओं से मुक्ति तब मिली जब ये सांवेर में खरीदी केन्द्र पर पहुँचे। यहां इनकी प्याज 8 रूपये किलो के भाव से खरीदी गई। प्याज जैसी थी, वैसी ही खरीदी गयी। इन्होंने पूर्व में बाजार में जब प्याज बेची थी तब भाव मिले थे 4 से 5 रुपये प्रति किलो। इससे इन्हें भारी नुकसान हुआ था। इस वर्ष समर्थन मूल्य पर प्याज बेचने से इन्हें अच्छा फायदा हुआ। मध्यप्रदेश में समर्थन मूल्य पर प्याज खरीदी के निर्णय एवं तद्नुसार खरीदी की पुख्ता व्यवस्थाओं से अजनोद गांव के किसान सुनील पटेल, रामेश्वर, महेन्द्र बिलावलिया, किशोर पटेल, सुभाष, भेरूलाल सहित इंदौर जिले के 9 हजार 878 किसानों ने कुल 8 लाख 10 हजार क्विंटल प्याज समर्थन मूल्य पर बेचकर राहत की सांस ली है।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान से दाल मिल एसोसिएशन का प्रतिनिधि मंडल मिला


28 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से आज यहां मुख्यमंत्री निवास में दाल मिल एसोसिएशन के प्रतिनिधि मंडल ने भेंट की। इस अवसर पर सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार श्री संजय पाठक भी उपस्थित थे


aaप्रदेश की सभी ग्राम पंचायत इंटरनेट से जुड़ेंगी


28 July 2017

भारत नेट योजना में प्रदेश की सभी ग्राम पंचायतों को इंटरनेट से जोड़ा जायेगा। पहले फेस में 173 विकासखंड की 12 हजार 690 ग्राम पंचायत को इंटरनेट से जोड़ने का कार्य जारी है। अभी तक 9390 ग्राम पंचायत में आप्टिकल फायबर लाइन डाली जा चुकी है। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने योजना की समीक्षा में समय-सीमा में कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिये। श्री गुप्ता ने कहा कि पहले चरण का कार्य सितम्बर 2017 तक पूरा करने के लिए साप्ताहिक प्लान बनाएँ। कार्य में कोई समस्या आए तो मुझे बताएँ। भारत ब्राडबेण्ड नेटवर्क लिमिटेड-नई दिल्ली (बी.बी.एन.एल.) के सीएमडी श्री संजय सिंह ने बताया कि दूसरे फेस के लिए टेंडर डाक्यूमेंट जल्द भेजे जायेंगे। उन्होंने बताया कि पूरे प्रदेश में 935 ऑप्टिकल लाइन टर्मिनल (ओ.एल.टी.) और ग्राम पंचायत स्तर पर 23 हजार 319 ऑप्टिकल नेटवर्क टर्मिनल स्थापित किये जायेंगे। टर्मिनल को बिजली के साथ ही सोलर पेनल से भी जोड़ा जायेगा। श्री सिंह ने कहा कि दूसरे फेज में 140 विकासखंड की 10 हजार 316 ग्राम पंचायत तक आप्टिकल फायबर लाइन डालने का कार्य भी समय-सीमा में पूरा किया जायेगा। बैठक में प्रमुख सचिव विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी श्री मोहम्मद सुलेमान, एम.डी. एम.पी. एस.ई.डी.सी. श्री रघुराज राजेन्द्रन और स्टेट वाइड एरिया नेटवर्क के प्रोजेक्ट डायरेक्टर श्री रिपुदमन सिंह भदौरिया उपस्थित थे।


aaपोषण परिपूर्ण ग्राम विकसित किये जायेंगे-महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती चिटनिस


28 July 2017

महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा है कि प्रदेश में कुपोषण नियंत्रण के लिये महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ-साथ कृषि और इससे संबंधित विभागों को समन्वित प्रयास करने होंगे। श्रीमती चिटनिस पोषण परिपूर्ण ग्राम की अवधारणा के क्रियान्वयन के लिए विशेषज्ञ समूह की बैठक की अध्यक्षता कर रही थीं। महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती चिटनिस ने कहा कि गाँव में कृषि एवं अनुषांगिक गतिविधियों के माध्यम से ग्रामीण आवश्यकताओं को स्‍थानीय उपज से पूरा कर कुपोषण से निजात दिलायी जा सकेगी। उन्होंने बताया कि इस योजना पर कार्य शुरू कर दिया गया है। कृषि विज्ञान केन्द्रों के समन्वय से प्रत्येक परियोजना में एक ग्राम को पोषण परिपूर्ण ग्राम के रूप में विकसित करने की योजना है। इस अवसर पर जिलों से आए कृषि वैज्ञानिकों ने कार्य-योजना का प्रस्तुतिकरण किया। बैठक में प्रमुख सचिव महिला एवं बाल विकास श्री जे.एन. कंसोटिया, आईसीडीएस प्रोजेक्ट डायरेक्टर सुश्री निधि निवेदिता, कृषि विज्ञान केन्द्र जोन-7 अटारी के निदेशक कृषि वैज्ञानिक श्री अनुपम मिश्र, संचालक कृषि उद्यानिकी, पशुपालन विभाग के अधिकारी मौजूद थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान से सेंट्रल प्रेस क्लब की नई कार्यकारिणी ने की भेंट


28 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से सेंट्रल प्रेस क्लब की नई कार्यकारिणी के सदस्यों ने आज मुख्यमंत्री निवास में सौजन्य भेंट की। इस अवसर पर राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अरूण दीक्षित, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री विजय कुमार दास, प्रदेश अध्यक्ष श्री गणेश साकल्ले, प्रदेश महासचिव श्री राजेश सिरोठिया, श्री मृगेंद्र सिंह, सुश्री सुचांदना गुप्ता, सुश्री दीप्ति चौरसिया, श्री धनंजय प्रताप सिंह, श्री कन्हैया लोधी, श्री अक्षय शर्मा, श्री के डी शर्मा, श्री अजय बोकिल, श्री अजय त्रिपाठी, श्री अश्विनी कुमार मिश्रा, श्री रिजवान अहमद सिद्धीकी, श्री नासिर हुसैन, श्री नितेंद्र शर्मा, श्री विकास तिवारी और श्री वीरेंद्र सिन्हा उपस्थित थे।


aaविज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री द्वारा रामनगर में स्कूल बाउण्ड्रीवाल का भूमि-पूजन


27 July 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने वार्ड 25 स्थित रामनगर में स्कूल की बाउण्ड्रीवाल और शेड निर्माण के लिए भूमि-पूजन किया। श्री गुप्ता ने रहवासियों को शासन की विभिन्न जन-कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी भी दी। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे


aaविश्व ओआरएस दिवस 29 जुलाई को


27 July 2017

विश्व ओआरएस दिवस-29 जुलाई को प्रत्येक जिले में विकासखण्ड-स्तर पर जागरूकता रैली के माध्यम से जन-सामान्य को दस्त रोग से बचाव एवं रोकथाम की जानकारी दी जायेगी। दस्त के दौरान आहार की निरंतरता, तरल पदार्थों का अधिक उपयोग, ओआरएस प्रयोग से निर्जलीकरण एवं दस्त के दुष्परिणामों से बचाव, जिंक की गोली से रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि आदि के बारे में लोगों को जागरूक किया जायेगा। हर गाँव में आरोग्य केन्द्र तथा आशा किट और प्रत्येक शासकीय स्वास्थ्य केन्द्र में ओआरएस पैकेट एवं जिंक की गोलियाँ नि:शुल्क उपलब्ध हैं। ओआरएस एवं जिंक गोली से रोके जा सकते हैं दस्त के दुष्परिणाम पाँच वर्ष तक के आयु वर्ग में लगभग 10 प्रतिशत बाल मृत्यु दस्त रोग, निर्जलीकरण और इसके दुष्परिणामों से होती है। इसे ओआरएस घोल एवं जिंक की गोली से रोका जा सकता है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रत्येक 5 वर्ष तक की आयु के बच्चों के घरों में ओआरएस की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जाती है। दस्तक अभियान के दौरान ओआरएस बनाने की विधि तथा आयु-वजन के अनुसार मात्रा के बारे में जागरूकता का प्रचार-प्रसार भी किया जाता है। प्रदेश की प्राथमिक एवं माध्यमिक शालाओं में दस्त रोग से बचाव एवं प्रारंभिक उपचार के लिये ओआरएस एवं जिंक की गोली के उपयोग में शालेय छात्र-छात्राओं को समय-समय पर जानकारी दी जाती है। सावधानी बरतें, रोग से बचें साबुन एवं पानी से हाथ धोना, स्वच्छ वातावरण, सुरक्षित पेयजल, शौचालय का उपयोग, शौच का सुरक्षित निस्तारण, भोजन एवं पानी को ढँककर उपयोग में लाना, बासी भोजन का प्रयोग न करने से दस्त से बचा जा सकता है। साथ ही समय पर पूर्ण टीकाकरण बच्चों को बीमारी से बचाता है।


aaपीडीएस में दो रुपये की दर से एक लाख क्विंटल प्याज बिकी


27 July 2017

अमराई बस्ती बागसेवनिया भोपाल के श्री दादा राव 2 रुपये किलो की दर पर पर प्याज खरीदने वाले प्रदेश के 31 लाख लोगों में से एक हैं। पाँच सदस्यीय परिवार के मुखिया श्री राव बताते है कि खरीदी गई 50 किलो प्याज अगले 6 माह की उनके परिवार की जरूरत को पूरा करेगी। मजदूरी से अपने परिवार की आजीविका चलाने वाले 55 वर्षीय श्री दादा राव राशन की दुकान से मिली प्याज को बाजार में मिलने वाली प्याज के समान गुणवत्ता की मानते हैं। उन्होंने बताया कि सप्ताह में 1 से 3 किलो प्याज उन्हें लेना पड़ती थी। बाजार में 10 से 15 रुपये प्रति किलो की दर होने से वह एक दो किलो ही खरीदते थे। राशन दुकान से नाम मात्र की कीमत 2 रुपये प्रति किलो होने से उन्हें 50 किलो लेने में कोई परेशानी नहीं हुई। श्री दादा राव की तरह ही अमराई बस्ती बागसेवनिया की श्रीमती सीमा गिरि, श्री रामस्वरूप पंडित और अन्य बस्तियों की राशन दुकान से प्याज लेने वाले लोगों ने बताया कि यह उनके लिए सरकार द्वारा दी गई राहत हैं। रसोई के लिए जरुरी 10 से 15 रुपये प्रति किलो की दर से प्याज खरीदना होती थी जो नाम मात्र 2 रुपये प्रति किलो की दर पर मिली। खाद्य आयुक्त श्री विवेक पोरवाल ने बताया कि प्रदेश में इस वर्ष राज्य सहकारी विपणन संघ द्वारा डेढ़ लाख किसानों से 8 लाख 76 हजार मीट्रिक टन प्याज की खरीदी 8 रुपये प्रति किलो की दर पर की गई। उपार्जित की गई प्याज की कुल मात्रा में से लगभग एक लाख मीट्रिक टन प्याज का वितरण सार्वजनिक वितरण प्रणाली द्वारा 31 लाख परिवारों को किया गया। प्याज का वितरण 10 किलो से 50 किलो तक प्रति परिवार को उनकी इच्छा अनुसार किया गया। सार्वजनिक वितरण प्रणाली के परिवारों को प्याज लेना उनकी इच्छा पर निर्भर है, चाहे तो लें अन्यथा नहीं लें। प्याज खराब नहीं हो, इसके लिए प्याज को नीलाम भी किया गया।


aaनिर्माण विभाग महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित कर कार्य करें – मुख्यमंत्री श्री चौहान


26 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्माण विभागों को निर्देशित किया है कि कार्यों की गुणवत्ता, निर्माण अवधि आदि के महत्वांकाक्षी लक्ष्य निर्धारित कर कार्य किये जायें। श्री चौहान आज मंत्रालय में प्रगति ऑनलाइन के दौरान निर्माण कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। ऑनलाइन समीक्षा में मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर आदिम जाति कल्याण विभाग के प्रकाशन 'समझ झरोखा' का विमोचन भी किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के दौरान निर्माण कार्यों की वर्तमान स्थिति, कार्य की पूर्णता और गुणवत्ता के संबंध में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने आदिम जाति कल्याण विभाग के निर्माणाधीन कन्या शिक्षा परिसरों की समीक्षा की। मुख्यमंत्री को बताया गया कि प्रदेश के 28 जिलों में 65 परिसरों का निर्माण किया जाना है। कुल 52 स्थलों पर निर्माण कार्य प्रारम्भ हो गये हैं। मुख्यमंत्री ने उपयुक्त भूमि की अनुपलब्धता की जानकारी मिलने पर संबंधित जिलों के कलेक्टरों और परियोजना क्रियान्वयन इकाई से सीधा संवाद किया। उन्होंने अधिकारियों को एक सप्ताह में उपयुक्त भूमि चयन का कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम में सीधी जिले की ग्रामीण समूह जल प्रदाय योजना मझोली, उमरिया जिले की ग्रामीण समूह जल प्रदाय योजना मानपुर, कन्या शिक्षा परिसर, बैतूल-खंडारा-आमला-बोरदेहि-बांसखापा-नागदेव मंदिर रोड, खमरपानी-सावरनी-लोधीखेड़ा-रेमंड चौक रोड, निवारी-सेंद्री रोड, बेनजीर पैलेस का हेरिटेज होटल में रूपांतरण, पूर्व क्षेत्र में फीडर सेपरेशन, रीवा की अमृत योजना अंतर्गत सीवरेज परियोजना और जबलपुर स्टेट कैंसर इंस्टिट्यूट परियोजनाओं की अद्यतन स्थिति की जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने कार्य को समय-सीमा में पूर्ण कराने के निर्देश दिये।


aaशोध कार्य के निष्कर्ष पुलिस व्यवस्था को बेहतर बनाने में सहयोगी हों


26 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के समक्ष मध्यप्रदेश पुलिस और विश्व के उत्कृष्टतम विश्वविद्यालयों में से एक मैसाच्यूसेट इस्टीट्यूट ऑफ टैक्नॉलाजी के मध्य समझौता आज मुख्यमंत्री निवास में हस्ताक्षरित हुआ। प्रदेश पुलिस को और अधिक जनोन्मुखी बनाने के लिये संस्थान द्वारा शोध कार्य किया जायेगा। इस अवसर पर पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला और मैसाच्यूसेट इस्टीट्यूट ऑफ टैक्नॉलाजी शोध संस्थान के श्री अब्दुल लतीफ ज़मील, गरीबी उन्मूलन एक्शन लैब की दक्षिण एशियाई प्रमुख सुश्री शोभनी मुखर्जी ने समझौते पर हस्ताक्षर किये। इस मौके पर पुलिस अधिकारी, संस्थान के प्राध्यापक और शोधकर्ता उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में सामुदायिक पुलिसिंग को और अधिक प्रभावी बनाने के निरंतर प्रयास हो रहे हैं। इस दिशा में वर्ष 2009 से जनसुनवाई शुरू की गई। प्रदेश में महिलाओं के सशक्तिकरण की प्रभावी पहल के लिए पुलिस बल में उनके लिए 30 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया गया है। मुख्यमंत्री ने संस्थान के साथ हुये एम.ओ.यू. पर प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि शोध कार्य निष्पक्ष और निरपेक्ष रूप से किया जाये। अध्ययन के निष्कर्ष पुलिस व्यवस्था को अधिक बेहतर और मजबूत बनाने में सहयोगी हों। पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला ने बताया कि प्रदेश की पुलिस व्यवस्था को और अधिक बेहतर तथा मज़बूत बनाने के लिये शोध का कार्य-क्षेत्र जनता एवं पुलिस के मध्य संवाद, पुलिस प्रतिक्रिया-प्रक्रिया और पुलिस बल में महिलाओं के एकीकरण पर केन्द्रित होगा। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव गृह श्री के. के. सिंह, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक बर्णवाल, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री राजीव टंडन और श्रीमती अनुराधा शंकर सिंह, प्रोफेसर वर्जीनिया विश्वविद्यालय श्री संदीप सूथांकर, प्रोफेसर हावर्ड विश्वविद्यालय श्री अक्षय मंगला, प्रोफेसर विज़नर वर्जीनिया सुश्री ग्रैब्रीला क्रूक्स, प्रोजेक्ट ऑफीसर जे.पी.ए.लैब दक्षिण एशिया श्री विष्णु पदमाभन, शोध सहायक श्री अंशुमान भार्गव उपस्थित थे।


aaकारगिल की विजय सेना के धैर्य, साहस और पराक्रम की गाथा-मेजर जनरल,रावत


26 July 2017

कारगिल विजय दिवस पर आज सैनिक विश्राम गृह में एक विशेष कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में कारगिल युद्ध के संबंध में जनसमुदाय को चल चित्र के माध्यम से विस्तृत जानकारी को दी गई। मुख्य अतिथि मेजर जनरल टी.पी.एस.रावत ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि हमारी सेनाएँ देश की सीमाओं और देशवासियों की सुरक्षा के लिए पूरी तरह सक्षम हैं। विपरीत पस्थितियों में सेना ने बड़े धैर्य और साहस से पराक्रम का प्रदर्शन करते हुए कारगिल युद्ध में विजय हासिल की थी। यह युद्ध किसी अन्य देश की सेना द्वारा जीत पाना असंभव था। मेजर जनरल रावत ने बताया कि दुर्गम स्थल होते हुए भी हमारी सेना ने कारगिल युद्ध लड़कर दुश्मनों को परास्त किया। उन्होंने कहा कि हमारे सैनिक अपने जीवन का अधिकतम और स्वर्णिम समय देश की सेवा में सर्मपित करते हैं। हमें भी उनके प्रति सदैव अपनत्व और सहयोग की भावना रखना चाहिये। इस अवसर पर मेजर जनरल अशोक कुमार,कर्नल ओ.पी.मिश्रा,कर्नल वी.पी.त्रिपाठी,कर्नल प्रणव मिश्रा (से.नि.) ने 16500 फिट उंची बर्फीली पहाड़ी पर हुऐ कारगिल सहित अन्य युद्धों की परिस्थितियों,सेना की रणनीति आदि के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी दी। इस युद्ध में 8 जवान शहीद और 48 सैन्य कार्मिक घायल हुऐ थे। कारगिल में शहीद हुए वीर जवानों को श्रद्धांजलि और राष्ट्रगान के उपरान्त कार्यक्रम का समापन हुआ। कार्यक्रम का संचालन कर्नल गिरिजेश सक्सेना तथा आभार प्रदर्शन कर्नल यशवंत के.सिंह ने किया। इस अवसर पर संचालक सैनिक कल्याण ब्रिगे.आर.एस. नोटियाल, भोपाल एक्स सर्विसेस लीग के अध्यक्ष कार्नल एस कुमार सहित सेवारत/सेवानिवृत्त सैन्य कार्मिक,उनके परिवारजन,शासकीय सेवक एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।


aaशहरीकरण का बेहतर प्रबंधन संभव - मुख्यमंत्री श्री चौहान


25 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि शहरीकरण की प्रक्रिया को रोका नहीं जा सकता लेकिन बेहतर प्रबंधन संभव है। बेहतर प्रबंधन से शहर स्वर्ग बन जाते हैं। उन्होंने कहा कि गांव तेजी से शहर की ओर बढ़ रहे हैं। इससे शहरों के लिये चुनौतियाँ भी पैदा हो रही हैं। इसलिये बेहतर शहरी प्रबंधन और नियोजन पर ध्यान देना जरूरी हो गया है। श्री चौहान आज यहाँ प्रसिद्ध अर्थशास्त्री ईशर जज आहलूवालिया की किताब ‘हमारे शहरों का रूपांतरण’ का विमोचन कर रहे थे। इस किताब का प्रकाशन मंजुल प्रकाशन द्वारा किया गया है। इस अवसर पर पूर्व में कार्यरत योजना आयोग के तत्कालीन उपाध्यक्ष श्री मोंटेक सिंह आहलुवालिया एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। श्री चौहान ने कहा कि हाल के सफाई सर्वेक्षण में सौ शहरों में 22 मध्यप्रदेश के हैं। इनमें भी इंदौर प्रथम और भोपाल दूसरे स्थान पर है। प्रदेश के सात शहर स्मार्ट शहर की सूची में शामिल हैं। श्री चौहान ने हिन्दी में इस किताब के प्रकाशन का महत्व बताते हुये कहा कि यह शहरी निकायों, प्रबंधन से जुड़े प्रतिनिधियों, नीति निर्माताओं के लिये मार्गदर्शी साबित होगी। उन्होंने कहा कि सभी शहरी निकायों को यह किताब उपलब्ध करायी जायेगी। किताब की लेखिका ईशर जज आहलूवालिया ने शहरी प्रबंधन और नियोजन के क्षेत्र में मध्यप्रदेश द्वारा की गई प्रगति की सराहना करते हुये कहा कि मध्यप्रदेश स्मार्ट सिटी के लिये उपलब्ध फण्ड का बेहतर उपयोग कर रहा है। उन्होंने इंदौर में निजी और सार्वजनिक भागीदारी से शहर बस सेवा की परियोजना पर चर्चा करते हुये कहा कि भोपाल और इंदौर में शहरी यातायात में अनूठा काम हुआ है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने अपनी मेहनत, लगन और प्रतिबद्धता से शहरीकरण की चुनौतियों का सामना करते हुये बेहतर प्रक्रिया और व्यवस्थायें स्थापित की हैं उनकी प्रेरणादायी कहानियाँ किताब में शामिल की गई हैं।


aaखाद्य आयोग के सदस्य श्री किशोर खण्डेलवाल द्वारा पदभार ग्रहण


25 July 2017

मध्यप्रदेश खाद्य आयोग के नवनियुक्त सदस्य श्री किशोर खण्डेलवाल ने आज दोपहर में सतपुड़ा भवन स्थित आयोग कार्यालय में पदभार ग्रहण किया। ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन, खाद्य आयोग के अध्यक्ष श्री आर.के. स्वाई, विधायक डॉ. मोहन यादव एवं खाद्य आयुक्त श्री विवेक पोरवाल विशेष रूप से अपस्थित थे। इस अवसर पर अध्यक्ष कर्मचारी संघ श्री रमेश शर्मा पूर्व विधायक श्री शिवा कोटवानी, अन्य जन-प्रतिनिधि तथा अधिकारी और कर्मचारी भी मौजूद थे।


aaहज हाउस परिसर में हज यात्री करेंगे पौधरोपण


25 July 2017

पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्रीमती ललिता यादव ने कहा है कि इस वर्ष हज यात्रा में जाने वाले सभी यात्रियों द्वारा हज हाउस परिसर में पौधरोपण किया जायेगा। श्रीमती यादव सिंगारचोली में हज हाउस का‍निरीक्षण कर रही थीं। राज्य मंत्री श्रीमती यादव ने कहा ‍िक हज यात्रा अमन और शांति की यात्रा है। हज हाउस में ज्यादा से ज्यादा पौधरोपण पर्यावरण संरक्षण की दिशा में सशक्त संदेश होगा। राज्य मंत्री ने निरीक्षण के दौरान पहुँच मार्ग को ठीक कराने तथा हज हाउस के सामने की जमीन का राजस्व रिकार्ड देखकर वास्तविक भूमि का आंकलन करने के निर्देश दिए। उन्होंने पहाड़ी से आने वाले बारिश के पानी की निकासी के लिए ड्रेनेज सिस्टम को व्यवस्थित करने की आवश्यकता बताई। श्रीमती यादव ने निर्देश दिए कि हज हाउस की ओर आने वाली दूसरी सड़क को तत्काल पूर्ण कराया जाये ताकि हज यात्रियों को आवागमन में असुविधा न हो। उन्होंने कहा कि वर्तमान में जो सड़क है, उसे यात्रियों के जाने के लिए सुरक्षित रखा जाये, जिससे भीड़ की स्थिति को नियंत्रित किया जा सकेगा। श्रीमती यादव ने खाली भूमि को भरने के लिए नगर निगम को प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए। श्रीमती यादव को निरीक्षण के दौरान जानकारी दी गई कि हज हाउस में लगभग 800 हज यात्रियों के लिये ठहरने की उत्तम व्यवस्था है। यहाँ पर चौबीस घंटे एक डाक्टर तथा 4 बेड की एक डिस्पेंसरी भी है। इसके अतिरिक्त, हज यात्रियों के लिये भोजन-पानी की भी पूर्ण व्यवस्था की गई है।


aaसस्ती विमान सेवा के लिये विमानपत्तन प्राधिकरण और राज्य के बीच एमओयू


24 July 2017

प्रदेश के नागरिकों को सस्ती विमान सेवा उपलब्ध करवाने, पर्यटन/ औद्योगिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से भारत सरकार द्वारा जारी नेशनल सिविल एविएशन पॉलिसी के तहत प्रदेश में रीजनल कनेक्टिविटी के लिये आरसीएस विमान तल के लिये भारत सरकार, भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण और राज्य के मध्य त्रि-पक्षीय एमओयू हुआ है। यह जानकारी विधानसभा परिसर में विमानन राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य की अध्यक्षता में हुई विभागीय परामर्शदात्री समिति की बैठक में दी गयी। प्रदेश के भोपाल, इंदौर एवं खजुराहो विमानतलों को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का बनाने के लिए राज्य शासन प्रयासरत है। इसके लिये राष्ट्रीय विमानपत्तन प्राधिकरण को नि:शुल्क भूमि उपलब्ध करवाई गई है। ये विमानतल प्राधिकरण के आधिपत्य में है, उनके द्वारा इस पर विस्तार किया जा रहा है। जबलपुर विमानतल पर नाईट लैडिंग प्राधिकरण के सहयोग से उपलब्ध करवाई गई है। विमानतल के विस्तार के लिये आवश्यक भूमि भी प्राधिकरण को नि:शुल्क उपलब्ध करवाई है। सिवनी, मंडला और दतिया में नई हवाई पट्टी गत वर्षों में प्रदेश में वाणिज्य एवं पर्यटन के विकास की गतिविधियों के विस्तार को देखते हुए सिवनी, मंडला और दतिया में नई शासकीय हवाई पट्टियाँ बनाई गई हैं। जिला मुख्यालय सिंगरौली में पीपीपी मोड में स्थानीय औद्योगिक इकाइयों के सहयोग से नये हवाई अड्डे के निर्माण की कार्यवाही प्रचलित है। मध्यप्रदेश सड़क विकास निगम से यह कार्य करवाया जा रहा है। शासकीय हवाई पट्टियों ढाना (सागर) एवं गुना को पायलट प्रशिक्षण तथा अन्य उड्डयन गतिविधियाँ संचालित करने के लिये संस्थाओं को निर्धारित शुल्क पर आवंटित किया गया है। इस प्रशिक्षण से प्रदेश के अभ्यर्थी उड्डयन के क्षेत्र में रोजगार के अवसर प्राप्त कर सकेंगे। शासकीय हवाई पट्टियाँ एयरो स्पोर्टस गतिविधियों के लिये होगी उपलब्ध प्रदेश स्थित शासकीय हवाई पट्टियों को एयरो स्पोर्टस गतिविधियों के लिए 3-3 माह पर किराये पर दिये जाने की नीति बनाई गई है। विमानन विकास गतिविधियाँ एवं सुविधाएँ विकसित करने के उददेश्य से प्रदेश की शासकीय हवाई पट्टियों को पारदर्शी प्रक्रिया से 15 वर्ष की अवधि के लिये डेव्हलपमेंट एग्रीमेंट पर निजी निवेशकों को देने की नीति भी निर्धारित की गई है। गतिविधियों में एयर क्राफ्ट रिसाइक्लिंग, हेलीकाप्टर अकादमी तथा एयरो स्‍पोर्टस आदि शामिल है। सिवनी हवाई पट्टी को मेस्को एयरो स्पेस लिमिटेड को देने का एग्रीमेंट हो चुका है। हवाई पट्टियों को पायलट/ अभियंता प्रशिक्षण गतिविधियों के संचालन के लिये इच्छुक संस्थाओं को आवंटित करने के लिये आरएफपी जारी करवाया गया है। बैठक में विधायक श्रीमती ममता मीना, श्री बालकृष्ण पाटीदार, श्री जालम सिंह पटेल और प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल उपस्थित थे।


aaदेश में मॉडल बना राज्य महिला आयोग


24 July 2017

संयुक्त राष्ट्र संघ से संबद्ध संस्था आइनी द्वारा कोलकता में हुए दो दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय मानवाधिकार पर हुए परिसंवाद में मध्यप्रदेश राज्य महिला आयोग द्वारा किये जा रहे कार्यों की प्रशंसा करते हुए उन्हें अन्य राज्यों में लागू करने का सुझाव दिया गया है। राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष श्रीमती लता वानखेड़े ने आयोग द्वारा महिला सशक्तीकरण, महिलाओं को त्वरित न्याय दिलाने के प्रयास, जमीनी स्तर पर महिलाओं की सहायता के लिये आयोग द्वारा जिलों में बनाये गये आयोग सखी और सहयोगी समितियों की जानकारी परिसंवाद में दी थी। परिसंवाद में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की पूर्व जस्टिस सुश्री जयमाला मुखर्जी, कार्यक्रम संयोजक श्री हेनरी, देश के विभिन्न राज्यों के महिला आयोग, अनुसूचित जाति, जनजाति आयोग, मानव अधिकार आयोग, बाल संरक्षण आयोग के सदस्यों ने भाग लिया। मध्यप्रदेश से आयोग की अध्यक्ष श्रीमती लता वानखेड़े सदस्यगण श्रीमती गंगा उईके, श्रीमती प्रमिला वाजपेयी, श्रीमती सूर्या चौहान, श्रीमती संध्या राय, श्रीमती अंजू सिंह बघेल मौजूद थी।


aaपर्यटन की दृष्टि से विकसित होगा गैवीनाथ धाम परिसर


23 July 2017

उद्योग एवं खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने आज सतना जिले के चित्रकूट क्षेत्र के प्रवास के दौरान बिरसिंहपुर पहुँचकर प्रसिद्ध शिवमंदिर में भगवान गैवीनाथ की पूजा अर्चना की। इस दौरान उन्होंने मंदिर परिसर में सौन्दर्यीकरण एवं श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए किये गये निर्माण कार्यो की जानकारी ली। श्री शुक्ल ने कहा कि बिरसिंहपुर का प्रसिद्ध शिव मंदिर करोडों लोगों की आस्था का केन्द्र बिन्दु है। गैवीनाथ मंदिर के परिसर का विकास और सौन्दर्यीकरण कार्य पर्यटन की दृष्टि से भी किया जायेगा। श्री शुक्ल ने कहा कि शिवमंदिर परिसर स्थित पवित्र जलकुण्ड को स्वच्छ जल से भरने के लिये स्टापडेम बनाकर पाइपों के जरिये पानी लाया गया है। अब इस पवित्र तालाब के चारों तरफ पेवर ब्लाक लगाकर सौन्दर्यीकरण कार्य तथा फाउन्टेन भी लगाये जायेंगे। श्री शुक्ल ने गैवीनाथ धाम में शेष रहे सौन्दर्यीकरण निर्माण कार्यो को युद्ध स्तर पर प्रारंभ कर शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिये। इससे बिरसिंहपुर का प्रसिद्ध गैवीधाम परिसर आस्था और भक्ति के स्थल के साथ ही महत्वपूर्ण पर्यटक स्थल के रूप में भी लोगों के आर्कषण का केन्द्र बन सके। आचार्य आश्रम नयागाँव पहुंचे उद्योग मंत्री उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल चित्रकूट प्रवास के दौरान नयागाँव स्थित आचार्य आश्रम पहुँचे। श्री शुक्ल ने आचार्य आश्रम में पीठाधीश्वर संकर्षण प्रपन्नाचार्य जी महराज और युवराज स्वामी बदरी प्रपन्नाचार्यजी के दर्शन कर आर्शीवाद प्राप्त किया।


aaउद्योग मंत्री श्री शुक्ल द्वारा रीवा में सोलर केबिल यूनिट का शुभारंभ


23 July 2017

उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने अपने रीवा प्रवास के दौरान आज व्ही.टी.एल. फैक्ट्री में सोलर केबिल यूनिट का शुभारंभ किया। इससे गुढ़ में स्थापित होने वाले विश्व के सबसे बड़े सोलर प्लांट में सोलर पैनल के माध्यम से उत्पादित बिजली सोलर केबिल के द्वारा ही पूलिंग सब स्टेशन में भेजी जायेगी। स्थानीय विन्ध्य टेलीलिक्स लिमिटेड में सोलर केबिल यूनिट की स्थापना की गयी है। उद्योग मंत्री ने इसका विधिवत पूजा-अर्चना कर शुभारंभ किया।


aaउद्योग मंत्री श्री शुक्ल द्वारा चित्रकूट और बिरसिंहपुर में आईपीडीएस योजना का शुभारंभ


23 July 2017

उद्योग, वाणिज्य एवं खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने आज सतना जिले के बिरसिंहपुर और चित्रकूट नगर पंचायत में आईपीडीएस योजना के कार्यों का शुभारंभ किया। श्री शुक्ल ने बिरसिंहपुर नगर पंचायत में आईपीडीएस योजना के 2 करोड़ 8 लाख रूपये लागत के स्वीकृत विद्युत कार्यों का शिलान्यास किया। उद्योग मंत्री ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश की बिजली की मांग 11 हजार मेगावाट है और उपलब्धता 19 हजार मेगावाट पहुँच गई है। उद्योग मंत्री ने ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युत विभाग की समाधान योजना के शिविर लगाकर विद्युत संबंधी समस्याएँ निराकृत करने के निर्देश दिये। चित्रकूट में नागरिक सुविधाओं के लिए रू. 63 करोड़ की परियोजना उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि चित्रकूट में पर्यटन और नागरिक सुविधाओं के विकास के लिए 63 करोड़ रूपये का प्रोजेक्ट तैयार कर केन्द्र सरकार को भेजा गया है। चित्रकूट पूरे देश की आस्था का केन्द्र-बिन्दु है। श्री शुक्ल ने चित्रकूट में नगर पंचायत की आईपीडीएस योजना में स्वीकृत 3 करोड़ 22 लाख रूपये से किये जाने वाले विद्युतीय कार्यों का शिलान्यास भी किया। श्री शुक्ल ने कहा कि सतना जिले के 11 नगरीय क्षेत्रों में इन्फ्रा-स्ट्रक्चर और नवीन बसाहटों में विद्युत की सुगम आपूर्ति के लिए आईपीडीएस योजना में 44 करोड़ रूपये के कार्य करवाये जायेंगे। मंदाकिनी नदी की स्वच्छता और पवित्रता के लिए 6 करोड़ रूपये से प्रथम चरण में पंपिंग स्टेशन, सीवर प्लांट और पाईप लाईन बिछाने के कार्य हुए हैं। गंदे पानी को मंदाकिनी में जाने से रोकने के लिए नदी संरक्षण फेस-2 में सीवर प्लांट का प्रोजेक्ट बनाकर 28 करोड़ रूपये का प्रस्ताव भारत सरकार को भेजा गया है। प्रोजेक्ट पूरा होने पर मंदाकिनी नदी को स्वच्छ रखने का सपना साकार होगा।


aaरेत खनिज विपणन तथा उत्खनन कार्यशाला की अनुशंसाओं को अंतिम रूप दिया जाये


22 July 2017

खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा है कि मध्यप्रदेश में नदियों से रेत के वैज्ञानिक उत्खनन तथा विपणन की प्रभावी पारदर्शी व्यवस्था के लिये हुई कार्यशाला की अनुशंसाओं को शीघ्र अंतिम रूप दिया जाये। नीति को बेहतर से बेहतर बनाने के लिये 15 दिवस में प्रस्ताव तैयार किया जाये। श्री शुक्ल आज मंत्रालय में प्रदेश में रेत खनिज के उत्खनन और विपणन के संबंध में गठित समिति की अध्यक्षता कर रहे थे। श्री शुक्ल ने कहा कि नर्मदा तथा अन्य नदियों से खनिज के उत्खनन के संबंध में स्थायी समाधान होना चाहिये। उन्होंने कहा कि कार्यशाला के सभी निष्कर्षों को ध्यान में रखते हुए रेत खनिज की उत्खनन और विपणन की पारदर्शी व्यवस्था की नीति तैयार की जाये। खनिज मंत्री ने कहा कि नर्मदा नदी से रेत के उत्खनन के लिये सभी प्रभावी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए समग्र प्रतिवेदन शीघ्र तैयार किया जाये। श्री शुक्ल ने कहा कि कार्यशाला के निष्कर्षों के आधार पर प्रदेश में आदर्श रेत खनिज नीति बनेगी। उन्होंने कहा कि इससे देश के अन्य राज्यों को भी लाभ मिलेगा। बैठक में सचिव खनिज साधन श्री मनोहर दुबे ने कार्यशाला में विभिन्न सत्र में हुई चर्चा के निष्कर्षों की जानकारी दी। बैठक में प्रमुख सचिव नगरीय विकास श्री मलय श्रीवास्तव, उप सचिव खनिज श्री राकेश श्रीवास्तव, आई.आई.टी. खड़गपुर, (पश्चिम बंगाल) के प्रोफेसर श्री के.पाठक तथा प्रोफेसर श्री अभिजीत मुखर्जी, विभागाध्यक्ष पर्यावरण विज्ञान, बरकतउल्ला विश्वविद्यालय, भोपाल श्री प्रदीप श्रीवास्तव, संचालक भौमिकी तथा खनिकर्म श्री व्ही.के. ऑस्टिन सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।


aaमध्यप्रदेश में आदर्श रेत खनन नीति बनाई जायेगी


21 July 2017

खनिज संसाधन, उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा है कि प्रदेश की नदियों और पर्यावरण का संरक्षण राज्य सरकार की पहली प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि खनिज सम्पदा में रेत का अपना महत्व है। रेत की माँग के अनुसार वैध तरीके से पूर्ति होने पर ही विकास की रफ्तार को गति मिलेगी। श्री शुक्ल ने आज भोपाल के एप्को परिसर में नदियों की पारिस्थितिकी के अनुकूल रेत हार्वेस्टिंग और विपणन पर केन्द्रित कार्यशाला के समापन अवसर पर ये उदगार व्यक्त किये। समापन समारोह में स्टेट इनवायरमेंट इम्पेक्ट असिसमेंट अथारिटी (एस.इ.आई.ए.ए.) के पूर्व पदाधिकारी श्री वसीम अख्तर, संयुक्त सचिव भारत सरकार श्री सुभाष चन्द्रा, कंट्रोल ऑफ माइंस सेन्ट्रल जोन नागपुर भी मौजूद थे। श्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि रेत खनिज के अंधाधुंध दोहन से पर्यावरण एवं ईकोलॉजी पर विपरीत असर पड़ता है। इस कारण से नदियों में रेत खनिज के संग्रहण और पुर्नभरण पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता महसूस हुई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में नर्मदा एवं अन्य नदियों में 1250 खदानें चिन्हित हैं। इनमें लगभग 7 करोड़ घन मीटर रेत उपलब्ध है। इन चिन्हित खदानों में से केवल 450 खदाने संचालन के लिये ठेके पर स्वीकृत की गई हैं। पिछले वित्तीय वर्ष में खदान से मात्र एक करोड़ 60 लाख घन मीटर रेत खनिज की निकासी की गई है। श्री शुक्ल ने बताया कि प्रदेश में कुल उपलब्ध भण्डार का मात्र 40 प्रतिशत भाग का ही दोहन हुआ है। उन्होंने कहा कि कार्यशाला के निष्कर्षों के आधार पर प्रदेश में आदर्श रेत खनन नीति बनेगी। देश के अन्य राज्यों को भी इस नीति से मार्गदर्शन मिलेगा। स्टेट माइनिंग कार्पोरेशन के अध्यक्ष श्री शिव चौबे ने नर्मदा सेवा यात्रा के अनुभव कार्यशाला में बताये। भोपाल कमिश्नर श्री अजातशत्रु, वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारी श्री आशीष श्रीवास्तव और होशंगाबाद कलेक्टर श्री अविनाश लवानिया ने कार्यशाला में हुए विभिन्न सत्रों में विचार विमर्श एवं निष्कर्षों की जानकारी दी।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान से साहू समाज का प्रतिनिधि मंडल मिला


21 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से साहू समाज के प्रतिनिधि मंडल ने आज मुख्यमंत्री निवास में सौजन्य भेंट की। साहू समाज ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री को शॉल-श्रीफल भेंट कर सम्मानित किया और परिचय सम्मेलन 2017 का ब्रोशर भेंट किया गया। सौजन्य भेंट के दौरान साहू समाज के राष्ट्रीय महासचिव डॉ. प्रकाश सेठ, प्रदेश अध्यक्ष श्री आर.सी.साहू, प्रदेश महासचिव श्री चन्द्रमोहन साहू, प्रदेश कोषाध्यक्ष श्री धनराज साहू, कार्यकारिणी सदस्य श्री मनोज साहू और अध्यक्ष टी.टी. नगर साहू समाज श्री सुरेन्द्र साहू सहित समाज के अन्य गणमान्य सदस्य उपस्थित थे।


aaनदियों का दोहन हो शोषण नहीं- मुख्यमंत्री श्री चौहान


21 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि खनन नीति का आधार पर्यावरण संरक्षण, सतत् विकास और मानवीय दृष्टिकोण होना चाहिये। रेत से राजस्व अर्जित करना सरकार की मंशा कतई नहीं है। श्री चौहान ने आज एप्को सभागार में आयोजित राष्ट्रीय कार्यशाला का शुभारंभ करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार का प्रयास है कि विकास के लिए रेत की सुलभ उपलब्धता हो। अवैध गतिविधियाँ बंद हों। नदियों का दोहन हो, शोषण नहीं। खनन दृष्टिकोण मानवीय हो। उन्होंने कहा कि इन्हीं उद्देश्यों पर आधारित खनन नीति निर्माण के लिए कार्यशाला का आयोजन किया गया है। श्री चौहान ने सरकार द्वारा खनन नीति निर्माण के विभिन्न स्वरूपों का चरणबद्ध उल्लेख किया और कार्यशाला में विचारणीय मुद्दों को रेखांकित किया। मुख्यमंत्री ने आशा व्यक्त की कि प्रदेश की खनन नीति का स्वरूप कार्यशाला के मंथन से निकला अमृत निर्धारित करेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर कहा कि प्रकृति पर केवल मानवमात्र का अधिकार नहीं है। जीव-जंतुओं, चल-अचल सभी तत्वों का समान अधिकार है। अत: प्रकृति के साथ संतुलित व्यवहार जरूरी है। ऐसा नहीं होने पर होने वाले आत्मघाती प्रभावों के संकेत पृथ्वी के तापमान में वृद्धि, अवर्षा, अनियमित वर्षा और प्राकृतिक आपदाओं के रूप में सामने आने लगे हैं। अनेक जीव-जंतु धरती से विलुप्त होने लगे हैं। महाशीर मछली सहित अनेक जीव-जंतु विलुप्ती के कगार पर है, उनके संरक्षण के प्रयास हो रहे हैं। संसार में सर्वत्र चिंता हो रही है। प्रदेश के नागरिकों ने पर्यावरण संरक्षण के लिये नर्मदा सेवा यात्रा के संकल्प और 12 घंटों में 7 करोड़ 13 लाख पौधे रोपकर इस दिशा में अपना फर्ज निभाया है। श्री चौहान ने कहा कि यह जरूरी हो गया है कि हम भावी पीढ़ी के लिए स्वस्थ वातावरण छोड़ें जिसमें सभी के लिये जीवन के समान अवसर हों। श्री चौहान ने कहा कि हमें प्रकृति से उतना ही लेना चाहिये जिसकी प्रकृति स्वयं भरपाई कर सके। नदी से हम उतनी रेत लें जिसकी वह स्वयं भरपाई कर सकें। पर्यावरण और विकास में संतुलन हमारी नीति का आधार हो। एक पक्षीय प्रयास उचित नहीं हैं। नदी से रेत उत्खनन अगर पूर्णत: बंद हो जाता है तो नदी में कटाव की समस्या आ जाती है। किनारे की उपजाऊ भूमि रेत में बदलने लगती है। इसी तरह विकास के लिये रेत की सहज उपलब्धता अंधाधुंध लाभार्जन प्रतिस्पर्धा को बढ़ाकर नदी के अस्तित्व के लिये संकट खड़ाकर देती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह जरूरी है कि नीति ऐसी बने जो संतुलित और व्यवहारिक हो। खनन नीति से आर्थिक लाभ की प्रतिस्पर्धा उत्पन्न नहीं हो। अवैध गतिविधियां बंद हों। मानव हस्तक्षेप के अवसर नियंत्रित और न्यूनतम हों। प्रक्रियाएं पारदर्शी हों। दृष्टिकोण मानवीय हो। आम उपभोक्ता को रेत सस्ती दर पर सुलभ हो। रोजगार के नये अवसर सृजित हों। मुख्यमंत्री ने कार्यशाला के विशेषज्ञों का आव्हान किया कि खनन नीति पर समग्र और मानवीय परिप्रेक्ष्य में चिंतन करें। खनन की वैज्ञानिक प्रक्रिया हो, जो रोजगार के अवसर सृजित करने के साथ ही पारिस्थितिकी का संरक्षण करे। उन्होंने आशा व्यक्त की कि कार्यशाला का चिंतन प्रदेश की खनन नीति निर्माण में सहयोगी होने के साथ ही पूरे देश की खनन नीति निर्माण में दिग्दर्शन करेगा। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के अध्यक्ष न्यायाधिपति श्री दिलीप सिंह ने कहा कि कार्यशाला का आयोजन अत्यंत सराहनीय पहल है। गहन चिंतन से खनिकर्म से संबंधित विभिन्न पहलुओं में सकारात्मक परिवर्तन आयेगा। कार्यशाला के निष्कर्ष सस्टेनबल पॉलिसी निर्माण में सहयोगी होंगे। उन्होंने प्रतिभागियों का आव्हान किया कि वे विषय विशेषज्ञ हैं। जमीनी हकीकतों से सीधे जुड़े हैं। उनके विचार अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। सब खुलकर विचार, सुझाव और शंकायें प्रस्तुत करें ताकि नदी प्रबंधन की प्रभावी व्यवस्था हो। पर्यावरण, राजस्व और उपभोक्ता हितों का प्रभावी संरक्षण हो। उन्होंने कहा कि विकास के लिए खनिकर्म जितना जरूरी है, उतना ही जरूरी भावी पीढ़ी के लिये स्वस्थ पर्यावरण छोड़ना है। पर्यावरण और विकास में संतुलन होना चाहिए। विकास के लिए रेत के विकल्पों को भी तलाशा जाये। अवैध उत्खनन को प्रतिबंधित करने के लिए सम्बद्ध विभागों का तंत्र सुदृढ़ हो। मानीटरिंग प्रक्रिया मजबूत हो। खनन वैज्ञानिक तरीके से हो। खनन की अनुमति खनिज की उपलब्धता के आधार पर मिले। पर्यावरण अनुमतियाँ मौका मुआयना के बाद ही प्रदान करने आदि की व्यवस्थायें होनी चाहिये। उन्होंने कहा कि खनन कैसे हो, कहाँ हो, कितना हो, इसके स्पष्ट दिशा-निर्देश होने चाहिए। खनिज संसाधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि कार्यशाला का आयोजन राज्य की खनन नीति का स्वरूप फूल-प्रूफ बनाने के मार्गदर्शी सिद्धांतों के निर्माण के लिए किया गया है। प्रयास है कि विकास कार्यों के लिए खनिज उपलब्ध हो। खनन का विपरीत प्रभाव नदी के स्वास्थ्य पर नहीं पड़े। जीव-जंतुओं के जीवन के लिए कोई खतरा पैदा नहीं हो। उन्होंने कहा कि प्रदेश में रेत की उपलब्धता 7 करोड़ घनमीटर है। आवश्यकता 3 करोड़ घनमीटर की आँकलित की गई है। प्रयास है कि ऐसी नीति बने जो रेत हार्वेस्टिंग के अनुरूप हो। जितनी रेत बहकर आये, नदी से उतना ही उत्खनन हो। अवैध उत्खनन पूर्णत: प्रतिबंधित हो जाये। रेत के विपणन की व्यवस्था ऐसी हो जिससे आम उपभोक्ता को सस्ती दर पर रेत सुलभ करवाई जा सके । खनिज निगम अध्यक्ष श्री शिव चौबे ने कार्यशाला में आभार प्रदर्शन किया। संचालन श्री सुधीर कोचर ने किया। प्रारम्भ में अतिथियों का स्वागत रूद्राक्ष का पौधा और श्री अमृतलाल वेगड़ की पुस्तकों, सौंदर्य की नदी नर्मदा एवं अमृतस्थ नर्मदा भेंट कर किया गया। उद्घाटन सत्र में राज्य की खनन नीति पर तेलगांना संचालक भौमिकी एवं खनिकर्म श्री सुशील कुमार ने और छत्तीसगढ़ के संयुक्त संचालक भौमिकी एवं खनिकर्म श्री डी.महेशबाबू ने पावर प्वाइंट प्रेजेन्टेशन दिया। बताया गया कि कार्यशाला के दौरान समानांतर रूप से तीन तकनीकी सत्रों का आयोजन किया गया है। जिसमें विषयवार विशेषज्ञ चिंतन कर विचार प्रस्तुत करेंगे। चौथा समापन का निष्कर्ष सत्र होगा। कार्यशाला की अनुशंसाएं प्रस्तुत की जायेंगी। कार्यशाला का विषय नदियों की पारिस्थितिकी के अनुकूलन, रेत हार्वेस्टिंग एवं विपणन नीति निर्धारण था। आयोजन भौमिकी एवं खनिकर्म संचालनालय म.प्र. और राज्य खनिज निगम लिमिटेड के तत्वावधान में किया गया था। कार्यशाला में मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, उपाध्यक्ष खनिज निगम श्री गिरिराज किशोर, देश के खनिकर्म से संबंधित विभिन्न संगठनों और विषयों के प्रख्यात विशेषज्ञ, विचारक और शोधार्थी उपस्थित थे।


aaग्रामीण जल प्रदाय योजनाओं में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखें- मुख्यमंत्री श्री चौहान


21 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि निर्माण विभागों में आंतरिक सतर्कता और भ्रष्टाचार रोकने की प्रभावी व्यवस्था बनायी जाये। ग्रामीण क्षेत्रों की सामूहिक जल प्रदाय योजनाओं में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज यहाँ मध्यप्रदेश जल निगम के संचालक मण्डल की बैठक में ये निर्देश दिये। बैठक में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री सुश्री कुसुम महदेले और मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सभी निर्माण विभागों की निविदा में भाग लेने के लिये स्थानीय ठेकेदारों को तैयार करने की योजना बनायी जाये। ग्रामीण सामूहिक जल प्रदाय योजनाओं में ग्रामीणों के लिये जल प्रदाय दर इतनी रखी जाये कि वे आसानी से उसे दे सकें। जल निगम द्वारा बनायी जा रही जल प्रदाय योजनाओं की लगातार मानीटरिंग की जाये और योजनाओं को समय-सीमा में पूरा किया जाये। परियोजना क्रियान्वयन इकाईयों की संख्या 5 से बढ़ाकर 12 होगी बैठक में बताया गया कि जल निगम के अंतर्गत सुदृढ़ीकरण के लिये परियोजना क्रियान्वयन इकाईयों की संख्या पाँच से बढ़ाकर बारह की जायेगी। बारह सौ 48 ग्रामों के लिये 11 ग्रामीण सामूहिक जल प्रदाय योजनाओं के लिये 1758 करोड़ 99 लाख रूपये की स्वीकृति दी गयी है। वर्तमान में निगम के अंतर्गत भोपाल, जबलपुर, इंदौर, ग्वालियर और सागर परियोजना क्रियान्वयन इकाईयाँ कार्यरत हैं। इसके अलावा शहडोल, सीधी, पन्ना, सतना, दमोह, राजगढ़ और जबलपुर में सात नई परियोजना क्रियान्वयन इकाईयाँ प्रस्तावित की गयी हैं। बैठक में वर्ष 2017-18 के लिये निगम को 1534 करोड़ 45 लाख रूपये का बजट स्वीकृत किया गया है। बैठक में अपर मुख्य सचिव नर्मदा घाटी विकास श्री रजनीश वैश्य, अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री आर.एस. जुलानिया, प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री मनोज गोविल, प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन श्री मलय श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव वित्त श्री अनिरूद्ध मुखर्जी सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।


aaसेना के जवानों को बहनों की राखियां मिलने पर होगा अपार हर्ष


20 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि रक्षाबंधन पर्व के अवसर पर बहनों की राखियां और शुभकामना संदेश जब सरहद पर तैनात जवानों को मिलेगे, तब उनका मनोबल और आत्मबल कई गुना बढ़ जायेगा। इस भावनात्मक प्रयास के लिये नव दुनिया परिवार बधाई का पात्र है। श्री चौहान ने यह बात आज मुख्यमंत्री निवास में नवदुनिया की पहल पर भारत रक्षा पर्व के अंतर्गत रक्षा रथ की फ्लैग ऑफ सेरेमनी में कही। इस अवसर मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह भी मौजूद थीं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हम अपने घरों में चैन से सोते हैं क्योंकि देश की सीमाओं पर हमारे जवान मुस्तैद रहते हैं। हमारे जवान सीमाओं की रक्षा के लिये होली, दीपावली और रक्षा बंधन आदि त्यौहार भी घर पर नहीं मनाते हैं। सदैव जान हथेली पर लेकर देश भक्ति के जज्बे के साथ सरहद की सुरक्षा करते हैं। उन्होंने कहा कि रक्षा बंधन पर्व पर जब मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ की हजारों बहनों की राखियां और शुभकामना संदेश लेकर नवदुनिया का रक्षा रथ उनके पास पहुंचेगा, तब जवानों को अपार हर्ष होगा, भावनात्मक प्रसन्नता की अनुभूति होगी। मुख्यमंत्री ने पारंपरिक विधि विधान से रक्षा रथ को रवाना किया। इस अवसर पर बताया गया कि नवदुनिया द्वारा भारत रक्षा पर्व के अंतर्गत रक्षा रथ के माध्यम से मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में भ्रमण कर बहनों से राखियां, ग्रीटिंग कार्ड और मैसेज का संकलन किया जा रहा है। संकलित सामग्री सेना के माध्यम से सीमा पर तैनात जवानों को उपलब्ध करवाई जायेगी। इस अवसर नवदुनिया के संपादक श्री सुनील शुक्ला, स्टेट ब्यूरो हेड श्री धनंजय प्रताप सिंह, श्री राजीव सोनी, हेड श्री विनित कौशिक सहित मॉडल स्कूल के एन.सी.सी.के छात्र एवं नव दुनिया के प्रतिनिधिगण मौजूद थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्री कोविंद को राष्ट्रपति पद पर निर्वाचित होने पर दी बधाई


20 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने श्री रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद पर निर्वाचित होने पर बधाई और शुभकामनाएं दी है । श्री चौहान ने अपने बधाई संदेश ने कहा कि श्री कोविंद विधि मर्मज्ञ और विद्वान है। सार्वजनिक जीवन मे नैतिकता के उच्च मानदंड स्थापित किये है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि राष्ट्रपति के रूप में कार्य करते हुए उनके हाथों भारतीय लोकतंत्र की मान्य परम्पराएं और समृद्ध होंगी।


aaकेन्द्रीय क्लाइमेट स्मार्ट विलेज परियोजना में प्रदेश के 60 गाँव चयनित


20 July 2017

जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभावों से किसानों और फसल उत्पादन को बचाने के लिये केन्द्र शासन द्वारा आरंभ क्लाइमेट स्मार्ट विलेज परियोजना में प्रदेश के 3 जिलों के 60 गाँव का पॉयलेट प्रोजेक्ट के रूप में चयन किया गया है। पर्यावरण मंत्री श्री अन्तर सिंह आर्य ने आज एप्को में परियोजना की राज्य स्तरीय कार्यशाला का शुभारंभ करते हुए प्रदेश के गाँव के चयन के लिये प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का प्रदेश की जनता की ओर से आभार प्रगट किया। विधायक श्री नारायण प्रसाद त्रिपाठी एप्को के कार्यपालन संचालक श्री अनुपम राजन भी मौजूद थे। परियोजना में चयनित सीहोर, राजगढ़ और सतना जिले के 20-20 गाँवों के लिये केन्द्र द्वारा 24 करोड़ 87 लाख रुपये की राशि स्वीकृत की गई है। पर्यावरण मंत्री श्री आर्य ने कार्यशाला में संबंधित जिलों के भाग ले रहे जनपद अध्यक्ष, कार्यपालन अधिकारी, पंचायतों के सरपंच और सचिव को संबोधित करते हुए कहा कि वे प्रदेश में ही नहीं देश में भी अपने-अपने गाँव को मॉडल क्लाइमेट स्मार्ट विलेज के रूप में स्थापित करें। पर्यावरण बचाने के लिये पौध-रोपण बहुत जरूरी है। विधायक श्री त्रिपाठी ने किसानों का आव्हान करते हुए कहा कि वे सोलर पम्प का उपयोग करें। देश में मध्यप्रदेश के स्मार्ट विलेज को आदर्श के रूप में प्रस्तुत करें। खाद, बीज, बिजली, पानी मिलने से किसान मजबूत हो जायेगा। उन्होंने बताया कि वे शीघ्र ही अपने क्षेत्र मैहर में 50 हजार पौध रोपण करवा रहे हैं। कार्यपालन संचालक राजन श्री राजन ने कहा कि जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभावों से सर्वाधिक प्रभावित किसान ही है। असंतुलित वर्षा और हानिकारक गैस के उत्सर्जन से फसल, उत्पादन, उत्पादकता और खाद्यान्न प्रजाति प्रभावित हो रही है। पृथ्वी की सतह के एक डिग्री तापमान बढ़ने के साथ ही फसल उत्पादन में 10 प्रतिशत की कमी आ जाती है। दक्षिण अफ्रीका में तापमान बढ़ने से मुख्य फसल मक्का उत्पादन में 30 प्रतिशत की कमी आई है। जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिये सही खाद, बीज, ऊर्जा प्रबंधन आदि पर काम करने की जरूरत है। केन्द्रीय पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के एनएएफसीसी के तहत क्लाइमेट स्मार्ट विलेज देश की पहली परियोजना है जो पूर्णत: केन्द्रीय अनुदान आधारित है। क्लाइमेट स्मार्ट विलेज मिट्टी और जल के संरक्षण, फसल की सूखा सहनशील किस्मों की खेती, कृषि वानिकी द्वारा ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने तथा मौसम पूर्वानुमान आधारित कृषि की नवीन पद्धतियों पर आधारित परियोजना है। कार्यशाला में नार्बाड, मौसम और कृषि विभाग के विषय-विशेषज्ञ भी भाग ले रहे हैं।


aaजनता में स्वच्छ प्रशासन का संदेश जाये


19 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि स्वच्छ प्रशासन का संदेश जनता तक पहुँचे। सुशासन सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होंने कमिश्नर और कलेक्टरों से कहा है कि राजस्व प्रशासन उनका बुनियादी काम है। इसे चुस्त-दुरुस्त बनाने को सर्वोच्च प्राथमिकता दें। जनता को लोक सेवा प्रदाय कानून की सेवायें समय-सीमा में मिलें। इसमें विलम्ब होने पर जुर्माना और दंडात्मक कार्रवाई की जाये। इसमें शिथिलता मिलने पर नियंत्रक अधिकारियों की जवाबदेही निर्धारित कर कार्रवाई की जायेगी। श्री चौहान आज कमिश्नर-कलेक्टरों की वीडियो कांफ्रेंसिंग को संबोधित कर रहे थे। कांफ्रेंसिंग में राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि लोक सेवा प्रदाय कानून के प्रकरणों के निराकरण की दैनिक स्थिति पोर्टल पर उपलब्ध होगी, ऐसी व्यवस्था की गई है। वे स्वयं पोर्टल की समीक्षा करेंगे। अधिकारियों को भी उनके कार्य क्षेत्र में प्रकरणों के निराकरण की विभाग, अधिकारी और सेवावार जानकारी उपलब्ध होगी। उन्होंने अधिकारियों से अपेक्षा की कि वे व्यवस्थायें चॉक-चौबंद कर लें मुख्यमंत्री समीक्षा में यदि गड़बड़ी मिली तो संबंधित जिला कलेक्टर, संभागायुक्त की प्रतिष्ठा धूमिल होगी। श्री चौहान ने निर्देश दिये कि लोक सेवा प्रदाय कानून में विभिन्न विभाग को 53 ऑनलाइन सेवाओं को सी.एम. डैश बोर्ड से संलग्न करवाया जाये। ऑफलाइन 58 सेवाओं को भी शीघ्र ऑनलाइन करें। अधिसूचित सेवाओं की जानकारी आमजन तक पहुँचाने के प्रयासों को युद्धस्तर पर किया जाये। कार्य से संबद्ध अधिकारी-कर्मचारियों का भी गहन प्रशिक्षण करवाया जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राजस्व विभाग सीधे जनता से जुड़ा है। इसलिये जरूरी है कि विभाग की सेवायें, तत्परता और सहजता से आमजन को मिलें। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि प्राथमिकता तय कर कार्य करें। हर जिला राजस्व मामलों की समाधान व्यवस्था को लंबित प्रकरणों से मुक्त बनायें। नये प्रकरण निर्धारित समय-सीमा में निराकृत हो, लंबित प्रकरण एक भी नहीं है, इसका दावा जिला करें। उन्होंने कहा कि राजस्व अधिकारी का बुनियादी काम राजस्व सेवायें है। वे निरंतर भ्रमण और निरीक्षण कर, व्यवस्थाओं की निगरानी करें। लंबित प्रकरणों की संख्या शू्न्य करने के लिये अभियान चलाने, पखवाड़ा मनाने और मुहिम चलाने आदि कार्यों की योजना भी बनाई जाये। कांफ्रेंसिंग में मुख्यमंत्री ने वृक्षारोपण महाभियान के पौधों के रख-रखाव की निगरानी करवाने, बाढ़ नियंत्रण और राहत-बचाव संबंधी सावधानियों, प्रयासों के प्रति सचेत रहने के निर्देश दिये। जनता का आदमी हूँ मुख्यमंत्री श्री चौहान कांफ्रेंसिंग में अधिकारियों के साथ कड़े तेवर में नजर आए। उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि वे जनता के आदमी है और जनता के बीच जाते है। जनता से सीधे चर्चा कर वे योजनाओं की मैदानी हकीकत जानेगें। उनसे सीधे राजस्व प्रशासन की सेवाओं की जानकारी लेंगे। उन्होंने राजस्व न्यायालय में लंबित प्रकरणों की अधिक संख्या के परिप्रेक्ष्य में सीधी के तहसीलदार न्यायालय कुसमी, सीधी और पोंडी से लंबित प्रकरणों के संबंध में स्पष्टीकरण प्राप्त करने के निर्देश दिये।


aaएड्स पर क्षेत्रीय कार्यशाला भोपाल में आज


19 July 2017

राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन, केन्द्रीय लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, अन्तर्राष्ट्रीय श्रम संगठन एवं मध्यप्रदेश राज्य एड्स नियंत्रण समिति द्वारा संयुक्त रूप से 20-21 जुलाई को भोपाल के होटल जहाँनुमा में क्षेत्रीय कार्यशाला की जा रही है। कार्यशाला में श्रम जगत में एचआईव्ही/एड्स संबंधी गतिविधियों को सम्मिलित करने के लिये रणनीतियों एवं अनुभवों का आदान-प्रदान किया जायेगा। कार्यशाला में गुजरात, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्यप्रदेश राज्य एड्स नियंत्रण समितियों के आईईसी एवं मेनस्ट्रीमिंग अधिकारी के साथ ही औद्योगिक इकाइयों और संगठनों के प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं। कार्यशाला का शुभारंभ 20 जुलाई को प्रात: 10.30 बजे होगा। उद्घाटन सत्र में आयुक्त लोक स्वास्थ्य श्रीमती पल्लवी जैन, परियोजना संचालक श्री उमेश कुमार, राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन के उप महानिदेशक डॉ. नरेश गोयल, राष्ट्रीय सलाहकार डॉ. राजेश राणा, अन्तर्राष्ट्रीय श्रम संगठन के कार्यक्रम अधिकारी श्री मोहम्मद बाकर और सेन्ट्रल बोर्ड ऑफ वकर्स एजुकेशन के रीजनल डायरेक्टर मौजूद रहेंगे। कार्यशाला में कार्यशाला में चर्चा के उपरांत निकले परिणामों के आधार पर भविष्य में प्राईवेट एवं पब्लिक सेक्टर में कार्यवाही सुनिश्चित की जा सकेंगी।


aaग्रामीण महिलायें बना रहीं हैं 3880 क्विंटल से अधिक अगरबत्ती हर माह


18 July 2017

आजीविका मिशन के स्व-सहायता समूहों से जुड़ी महिला सदस्यों द्वारा अगरबत्ती का उत्पादन किया जा रहा है। घर बैठे किये जाने वाला यह काम उनकी अतिरिक्त आय का जरिया बन गया है। आजीविका गतिविधियों से जुड़कर महिलायें आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ रही हैं। राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन द्वारा स्व-सहायता समूह सदस्यों को आजीविका के अवसर उपलब्ध कराने के लिए अन्य कार्यों के साथ-साथ अगरबत्ती बनाने का प्रशिक्षण दिया गया। प्रदेश में 1896 महिलाओं द्वारा अगरबत्ती बनाने का कार्य किया जा रहा है। पैडल एवं ऑटोमेटिक मशीनों से प्रदेश में लगभग 90 क्विंटल प्रतिदिन अगरबत्ती का उत्पादन किया जा रहा है। प्रदेश के 24 जिलों के 154 ब्लॉक में 255 अगरबत्ती यूनिट संचालित है। प्रतिमाह लगभग 3880 क्विंटल अगरबत्ती का निर्माण हो रहा है। ग्रामीण क्षेत्र के निर्धन परिवारों की महिलाओं द्वारा बनाई जा रही यह अगरबत्ती, पैकिंग, खुशबू के मामले में बहुर्राष्ट्रीय कंपनियों से पीछे नहीं है। आजीविका अगरबत्ती की बाजार में मांग बनी हुई है। बड़ी संख्या में महिलायें व्यक्तिगत एवं सामूहिक रूप से इस कार्य से जुड़ी हुई है। प्रमुख रूप से शिवपुरी, रीवा, सागर, धार आदि जिलों की अगरबत्ती प्रदेश के साथ अन्य प्रदेशों के बाजारों में भी अपनी पहचान बनाती जा रही है। ''व्ही टू सी बाजार डॉट कॉम'' के माध्यम से आजीविका उत्पादों को डिजीटल प्लेटफॉर्म से वैश्विक बाजार से सीधा जोड़ा गया है।


aaरोशनी को मिलेगा बकाया वेतन


18 July 2017

राज्य महिला आयोग ने श्रीराम कॉलेज प्रबंधन को सुश्री रोशनी पवार के वेतन की 35 हजार 519 रुपये की बकाया राशि 15 दिन के भीतर लौटाने के निर्देश दिये हैं। प्रबंधन ने रोशनी को नौकरी से हटाने के बाद एक माह के विरुद्ध मात्र 10 दिन का वेतन दिया था। अध्यक्ष श्रीमती लता वानखेड़े और सदस्यगण श्रीमती गंगा उईके, श्रीमती अंजू सिंह बघेल, श्रीमती प्रमिला वाजपेई और श्रीमती सूर्या चौहान की संयुक्त बैंच ने आज भोपाल बैंच के दूसरे दिन 29 प्रकरण की सुनवाई की। वर्तमान आयोग की भोपाल में यह 15वीं संयुक्त बैंच थी। अगली बैंच 31 जुलाई और एक अगस्त को होगी। श्रीमती लता वानखेड़े ने बताया कि आयोग प्रधानमंत्री उपचार योजना के प्रावधानों में संशोधन के लिये शीघ्र ही पत्र लिखेगा। श्रीमती वानखेड़े ने बताया कि एक प्रकरण में कैंसर उपचाररत भाई की मृत्यु के बाद प्रधानमंत्री उपचार योजना के तहत अस्पताल को 30 हजार रुपये की राशि मिली थी। आर्थिक रूप से कमजोर बहन कीर्ति ने जब अस्पताल से स्वीकृत राशि की माँग की तो प्रबंधन ने कहा कि वह राशि केन्द्र को लौटा दी गई है। यहीं नहीं मृत भाई के एमबीए पढ़ाई के लिये लिये गये ऋण की वसूली स्टेट बैंक पिता की पेंशन से कर रहा है। आयोग ने बैतूल में 27 जुलाई को होने वाली बैंच में बैंक मैनेजर को तलब किया है। श्रीमती वानखेड़े ने कहा कि कमजोर वर्गों के लोगों द्वारा उपचार में राशि खर्च कर देने के बाद मरीज की मृत्यु हो जाने पर भी योजना की राशि मिले इसके लिये वह प्रयास करेंगी। अपील पारिवारिक प्रकरणों की तेजी से बढ़ती संख्या पर चिन्ता व्यक्त करते हुए अध्यक्ष श्रीमती वानखेड़े ने नवदम्पत्तियों से अपील की है कि कम से कम एक साल तक एक दूसरे को समझें और परिवार में सामंजस्य बैठाने की कोशिश करें। श्रीमती वानखेड़े ने कहा कि देखने में आया है कि विवाह टूटने का कारण निहायत ही छोटे मुद्दों से शुरू होता है। जो मात्र सहनशीलता की कमी और अंहकार से जुड़े होते हैं। हर व्यक्ति को विचारधारा अलग-अलग होती है। बुरा मानने की बजाय दम्पत्ति आपस में मिलकर मामलें सुलझायें और आगे चलकर एक खुशहाल परिवार बनें।


aaबरौआ बायपास दुर्घटना के प्रभावितों को हरसंभव मदद की जायेगी-मुख्यमंत्री श्री चौहान


17 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पिछले दिनों मुरैना जिले के बरौआ बायपास के पास हुई ट्रैक्टर-ट्राली और ट्रक की टक्कर में मृतकों के परिजनों को हरसंभव सहायता की जायेगी। इस दुर्घटना में अलाहपुर और विषमपुरा के सात लोगों की मृत्यु हो गयी थी और बारह लोग घायल हो गये थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान से आज यहाँ मुख्यमंत्री निवास पर इस दुर्घटना से प्रभावित लोगों के परिजनों ने मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस परिवार में केवल दो बेटियाँ बची हैं, उनकी नि:शुल्क शिक्षा और देखरेख की व्यवस्था की जायेगी। मृतकों के परिजनों के लिये रोजगार की व्यवस्था कराई जायेगी। उन्होंने राहत राशि तत्काल देने के निर्देश दिये। इस अवसर पर लोक स्वास्थ्य मंत्री श्री रूस्तम सिंह और विधायकगण उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा स्व. श्री शीतला सहाय और स्व. श्री के.एन. प्रधान को श्रद्धांजलि


17 July 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज बाणगंगा रोड स्थित के.एन. प्रधान तिराहे पहुँचकर पूर्व मंत्री श्री शीतला सहाय और पूर्व मंत्री श्री के.एन. प्रधान को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने श्री के.एन. प्रधान की प्रतिमा पर मार्ल्यापण किया और स्वर्गीय श्री सहाय के चित्र पर मार्ल्यापण किया। आज स्वर्गीय श्री सहाय और स्वर्गीय श्री प्रधान की पुण्यतिथि है। इस अवसर पर स्व. श्री के.एन. प्रधान की पत्नी श्रीमती गायत्री प्रधान, परिजन, जनप्रतिनिधिगण एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे


aaदस हजार पटवारियों की भर्ती होगी


17 July 2017

किसानों के हित के लिये इस वर्ष से फसल गिरदावरी संबंधी जानकारी मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से संग्रहीत की जायेगी। इस मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से पटवारियों को उनके मोबाइल पर ही ग्राम के समस्त भूमि स्वामियों के सभी खसरों की जानकारी प्राप्त हो जायेगी। लगायी गयी फसल की जानकारी ग्राम से ही भरी जा सकेगी। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने समन्वय भवन में मोबाइल एप का शुभारंभ किया। श्री चौहान ने कहा कि राजस्व अमले की कमी पूरी करने के लिये जल्दी ही 10 हजार पटवारियों, 550 तलसीलदारों और 940 नायब तहसीलदारों की भर्ती की जायेगी। भर्ती प्रक्रिया पूरी करने के आदेश दे दिये गये हैं। उन्होंने राजस्व विभाग प्रमुख को पटवारियों की विभागीय पदोन्नति के संबंध में भी विचार करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि राजस्व प्रशासन को प्रभावी बनाने के लिये युद्ध स्तर पर काम करने की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने पटवारियों को सूचना प्रोद्योगिकी का उपयोग करने के लिये टेब खरीदने के लिये उनके खाते में आवश्यक राशि देने की घोषणा की। श्री चौहान ने कहा कि सरकार पूरी तरह से लोगों के प्रति जवाबदेह है। उन्होंने कहा कि बोनी के समय के आँकडों का शुद्ध रेकार्ड उपलब्ध रहेगा। उन्होंने कहा कि किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य देने के लिये हर संभव कदम उठाये जा रहे हैं। किसानों को समर्थन मूल्य और बाजार मूल्य के अंतर के आधार पर आदर्श दर से भुगतान करने का नवाचारी प्रयोग भी किया जायेगा। मोबाइल एप से होने वाले लाभों की चर्चा करते हुए श्री चौहान ने कहा कि राजस्व विभाग का यह क्रांतिकारी कदम भविष्य में बदलाव लायेगा। पारंपरिक बस्ते से मुक्ति मिलेगी। उन्होंने एप संचालन के लिये एनआईसी का उपयोग करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि लोगों को राजस्व विभाग और इसके अमले से बहुत अपेक्षाएँ हैं। क्या है फसल गिरदावरी फसल गिरदावरी प्रतिवर्ष की जाने वाली एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। यह वर्ष में दो बार खरीफ और रबी सीजन की बुवाई के बाद की जाती है। इसे भू-अभिलेखों में दर्ज किया जाता है। यह कृषि सांख्यिकी एकत्रित करने की प्रक्रिया है। इसके आधार पर फसलों के क्षेत्रफल एवं उत्पादन संबंधी अनुमान की जानकारी तैयार की जाती है। कृषि वर्ष 1 जुलाई से प्रारंभ होकर 30 जून को समाप्त होता है। प्रथम खरीफ की फसलों तथा द्वितीय रबी की फसलों के आधार पर चालू वर्ष के खसरे में बोए गए क्षेत्रफल की फसल गिरदावरी के आधार पर दर्ज की जाती है। गिरदावरी जितनी सही और समय पर होगी, कृषि सांख्यिकी पूरी तरह से विश्वसनीय रहेगी। क्यों जरूरी है गिरदावरी फसल गिरदावरी के आधार पर ही खरीफ और रबी फसलों के बोए गए रकबे के आँकड़े प्राप्त होते हैं। उस आधार पर प्रमुख फसलों के उत्पादन व उत्पादकता अनुमान तथा राज्य एवं देश की कृषि दर निर्धारित की जाती है। फसल गिरदावरी कार्य से ही फसल पूर्वानुमान लगाया जाता है, जिससे फसल गिरदावरी को राजस्व खसरे के रकबे के आधार पर सांख्यिकी कार्य के लिये जानकारी शासन को प्रेषित की जाती है। यह जानकारी कई मामलों जैसे फसल बीमा, प्राकृतिक आपदा से हुए नुकसान की भरपाई, बैंक ऋण, योजनाओं के लाभ लेने आदि में महत्वपूर्ण होती है। मोबाईल एप्लीकेशन इस मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से पटवारियों को उनके मोबाइल पर ही ग्राम के समस्त भूमि स्वामियों के सभी खसरों की जानकारी प्राप्त हो जायेगी। जैसे ही भरी गयी जानकारी अपलोड की जायेगी, कृषक को उससे संबंधित खसरों में फसल गिरदावरी के अंतर्गत कौन सी जानकारी दर्ज की गयी है, यह सूचना एस.एम.एस. के माध्यम से भेजी जायेगी। इसमें एक पासकोड भी होगा। यदि कृषक, पटवारी द्वारा भरी गयी जानकारी से सहमत है, तो वह पासकोड पटवारी को बतायेगा। जब पटवारी द्वारा यह पासकोड एप्लीकेशन में डाला जायेगा तभी जानकारी को अंतिम माना जायेगा। यदि किसी कृषक के पास कोई मोबाइल नंबर नहीं है तो वह अपने पड़ोसी का नंबर भी एस.एम.एस. प्राप्त करने में उपयोग कर सकेगा। फसल की जानकारी के साथ ही अन्य पड़त भूमि, भूमि में लगे वृक्ष, मकान आदि की जानकारी भी एप्लीकेशन के माध्यम से दर्ज की जा सकेगी। प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरूण पांडे ने मोबाइल एप के बारे में जानकरी दी। इस अवसर पर कृषि उत्पादन आयुक्त श्री पी.सी. मीणा, प्रमुख सचिव कृषि डॉ. राजेश राजौरा, प्रमुख सचिव सहकारिता श्री अजीत केसरी उपस्थित थे। आयुक्त भू-अभिलेख श्री एन. के. अग्रवाल ने आभार माना।


aaअब विवाह के लिये नहीं ढूंढना पड़ेगा विवाह-घर


15 Jul 2017

वार्ड-29 स्थित मदर टेरेसा आश्रम के आसपास के लोगों को सामुदायिक भवन बनने के बाद विवाह सहित अन्य सामाजिक-सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिये दूसरी जगह नहीं जाना पड़ेगा। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने यह बात वार्ड-29 में सामुदायिक भवन के भूमि-पूजन समारोह में कही। भवन का भूमि-पूजन श्री गुप्ता, महापौर श्री आलोक शर्मा और नगर निगम अध्यक्ष श्री सुरजीत सिंह चौहान ने किया। सामुदायिक भवन का निर्माण 40 लाख की लागत से किया जायेगा। श्री गुप्ता ने कहा कि सामुदायिक भवन बनाने के पहले बाउण्ड्री-वॉल बनायें। उन्होंने कहा कि भवन अत्याधुनिक और गुणवत्तापूर्ण होना चाहिये। श्री गुप्ता ने कहा कि सरकार ने 13 साल में बगैर अतिरिक्त कर लगाये विकास के अनेक कार्य किये हैं। उन्होंने मेधावी विद्यार्थी योजना के बारे में जानकारी दी। इस योजना का लाभ बिना किसी भेदभाव के सभी वर्ग के बच्चों को मिलेगा। महापौर श्री शर्मा ने कहा कि सामुदायिक भवन का नाम स्व. श्री नारायण प्रसाद गुप्ता के नाम पर होगा। उन्होंने कहा कि सर्व-सुविधायुक्त भवन के निर्माण के लिये जरूरत पड़ने पर अतिरिक्त राशि स्वीकृत की जायेगी। श्री शर्मा ने कहा कि इस क्षेत्र की सीवरेज की समस्या के निराकरण के लिये प्रोजेक्ट बनाया जा चुका है। नगर निगम के अध्यक्ष श्री चौहान ने कहा कि निर्धारित समय-सीमा में भवन का निर्माण कार्य करवाया जाये। श्री चौहान ने अध्यक्ष निधि से 25 लाख रुपये दिये हैं। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaराजस्व मंत्री द्वारा गीतांजलि चौराहा स्थित पार्क में पौधारोपण


15 Jul 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने गीतांजलि चौराहा स्थित पार्क में पौधारोपण किया। उन्होंने कहा कि पौधों की पूरी सुरक्षा की जाये। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaडिजिटल लॉकर में भी जारी होंगे सीपीसीटी स्कोर-कार्ड


15 Jul 2017

मेप आई.टी. द्वारा प्रदेश में कम्प्यूटर दक्षता प्रमाणीकरण परीक्षा सीपीसीटी के अभ्यर्थियों की सुविधा के लिये सीपीसीटी स्कोर-कार्ड उनके डिजिटल लॉकर एकाउंट में भी उपलब्ध करवाने का निर्णय लिया गया है। डिजिटल लॉकर में कोई भी नागरिक अपने सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज जैसे- अंक-सूची, प्रमाण-पत्र सुरक्षित रूप से ऑनलाइन प्लेटफार्म पर रख सकते हैं। जरूरत पड़ने पर यह साझा भी किये जा सकते हैं। मेप आई.टी. द्वारा आगामी वर्ष में सभी उम्मीदवारों का सत्यापन आधार-कार्ड द्वारा किया जायेगा। पूरी परीक्षा एवं भर्ती प्रक्रिया में आधार क्रमांक की महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी। जल्द ही अभ्यर्थी अपनी 10वीं, 12वीं एवं पॉलीटेक्निक डिप्लोमा की अंक-सूची भी डिजिटल लॉकर एकाउंट के माध्यम से सीपीसीटी परीक्षा के आवेदन में संलग्न कर सकेंगे।


aaपुलिस वाहनों पर बहुरंगी लाल-नीली और सफेद बत्ती रहेगी


14 Jul 2017

केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की अधिसूचना में सरकार द्वारा कार्यालय ड्यूटी पर पुलिस वाहनों को बहुरंगी लाल, नीली और सफेद बत्ती के प्रयोग करने हेतु अनुज्ञात किया गया है। राज्य शासन के परिवहन विभाग द्वारा इस बाबत आदेश जारी कर दिये गये हैं। अब 'डायल-100'' योजना में कार्यरत वाहन, पुलिस कंट्रोल-रूम में कार्यरत कानून-व्यवस्था ड्यूटी संबंधी वाहन, पुलिस थाने में कानून-व्यवस्था में कर्त्तव्य निष्पादन वाले वाहन, जिलों में कार्यरत नगर पुलिस अधीक्षक/अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस)/अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, जिलों के पुलिस अधीक्षक, रेंज के उप पुलिस महानिरीक्षक और जोनल पुलिस महानिरीक्षक के वाहनों पर बहुरंगी लाल, नीली और सफेद बत्ती का प्रयोग होगा। इन वाहनों पर परिवहन विभाग द्वारा निर्धारित प्रारूप में सुरक्षा-मुद्रित वाटर मार्क पेपर पर जारी स्टिकर को विन्डस्क्रीन पर प्रदर्शित करना अनिवार्य होगा।


aaभाप्रसे के 7 अधिकारियों के पदोन्नति आदेश जारी


14 Jul 2017

राज्य शासन द्वारा भारतीय प्रशासनिक सेवा के वर्ष 1993 बैच के 7 अधिकारियों को प्रमुख सचिव के पद पर पदोन्नति के आदेश जारी किये गये हैं।
अधिकारी का नाम--वर्तमान पद-स्थापना--नवीन पद-स्थापना

श्री संजय दुबे--कमिश्नर, इंदौर संभाग--वि.क.अ.-सह-कमिश्नर, इंदौर संभाग
डॉ. मनमोहन अगनानी--कमिश्नर, सागर संभाग--वि.क.अ.-सह-कमिश्नर, सागर संभाग
श्री नीरज मण्डलोई--आयुक्त, उच्च शिक्षा तथा परियोजना संचालक, राष्ट्रीय उच्च शिक्षा मिशन एवं पदेन सचिव, मध्यप्रदेश शासन, उच्च शिक्षा विभाग--वि.क.अ.-सह-आयुक्त, उच्च शिक्षा तथा परियोजना संचालक, राष्ट्रीय उच्च शिक्षा मिशन
श्री अनुपम राजन--पर्यावरण आयुक्त एवं कार्यपालक संचालक, पर्यावरण नियोजन एवं समन्वय संगठन (एप्को) एवं आयुक्त, जनसम्पर्क तथा आयुक्त-सह-संचालक, पुरातत्व एवं संग्रहालय--पर्यावरण आयुक्त एवं कार्यपालक संचालक, पर्यावरण नियोजन एवं समन्वय संगठन (एप्को) एवं आयुक्त, जनसंपर्क तथा आयुक्त-सह-संचालक पुरातत्व एवं संग्रहालय
श्री अनिरुद्ध मुखर्जी--सचिव, मध्यप्रदेश शासन, वित्त विभाग तथा प्रमुख सलाहकार, मध्यप्रदेश राज्य योजना आयोग (अतिरिक्त प्रभार)--प्रमुख सचिव, मध्यप्रदेश शासन, वित्त विभाग तथा प्रमुख सलाहकार, मध्यप्रदेश राज्य योजना आयोग (अतिरिक्त प्रभार)
श्रीमती दीप्ति गौड़ मुकर्जी--सचिव, मध्यप्रदेश शासन, स्कूल शिक्षा विभाग--प्रमुख सचिव, मध्यप्रदेश शासन, स्कूल शिक्षा विभाग
श्री आर.के. श्रीवास्तव--प्रबंध संचालक, मध्यप्रदेश कृषि विपणन बोर्ड-सह-आयुक्त मण्डी--वि.क.अ.-सह-प्रबंध संचालक, मध्यप्रदेश कृषि विपणन बोर्ड-सह-आयुक्त मण्डी


aaनिर्वाचन आयोग ने सांसद, विधायक को अधिसूचित स्थान के अलावा अन्य स्थल पर मतदान के अनुमति प्रावधान को किया शिथिल


13 Jul 2017

भारत निर्वाचन आयोग राष्ट्रपति निर्वाचन के लिये सांसद/विधान सभा सदस्य को उनके समूह के लिये अधिसूचित मतदान-स्थल के अलावा अन्य स्थल पर मतदान करने की अनुमति दे सकेगा। लेकिन आवश्यक व्यवस्था करने के लिये पर्याप्त समय उपलब्ध होना चाहिये। आयोग द्वारा लिये गये निर्णय के अनुसार मतदान की तारीख से 10 दिन पूर्व की अवधि के बाद भी इस संबंध में ऐसा अनुरोध प्राप्त होने पर उस पर व्यक्तिगत मामले की स्थिति के आधार पर विचार किया जा सकेगा। आयोग ने अत्यंत तात्कालिक स्थिति के मामले में 10 दिन पहले की सूचना की उपर्युक्त शर्त को उदार बनाने की दिशा में यह महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। इस संबंध में आयोग द्वारा 10 जुलाई को जारी अधिसूचना का मध्यप्रदेश राजपत्र में प्रकाशन कर दिया गया है। आयोग द्वारा पूर्व में 14 जून को जारी अधिसूचना के अनुसार सांसद/विधायक किसी विशेष परिस्थिति के कारण अधिसूचित मतदान-स्थल के अलावा अन्य स्थल पर मतदान करना चाहें, तो उसे मतदान तारीख से 10 दिन पहले निर्धारित प्रपत्र में आयोग को सीधे आवेदन देना होगा।


aaसभी राजनैतिक दल आदर्श आचरण संहिता का पालन कड़ाई से करें


13 Jul 2017

सभी राजनैतिक दल निर्वाचन की अधिसूचना जारी होने के बाद आदर्श आचरण संहिता का पालन कड़ाई से करें। राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री आर. परशुराम ने यह बात अनुसूचित क्षेत्रों एवं अन्य नगरीय निकायों के प्रस्तावित आम निर्वाचन के संबंध में हुई स्टेंडिंग कमेटी की बैठक में कही। बैठक में भारतीय जनता पार्टी, इण्डियन नेशनल कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के प्रतिनिधि उपस्थित थे। श्री परशुराम ने कहा कि अध्यक्ष का चुनाव लड़ने वाले अभ्यर्थियों को निर्वाचन व्यय के लिये राष्ट्रीय बैंक में खाता खोलना होगा। निर्वाचन व्यय की जानकारी प्रतिदिन रिटर्निंग आफिसर को देनी होगी। पाँच हजार रुपये से अधिक के व्यय नगद नहीं होंगे। उन्होंने 'चुनाव' एप के बारे में जानकारी दी। श्री परशुराम ने बताया कि 18 अन्य पहचान-पत्रों के अलावा एप जनित ई-फोटोयुक्त मतदाता-पर्ची और बॉयोमेट्रिक्स डिवाइस पर आधार नम्बर से भी मतदाताओं की पहचान की जा सकेगी। उप सचिव श्री दीपक सक्सेना ने ऑनलाइन नाम निर्देशन-पत्र भरने की प्रक्रिया 'OLIN' के बारे में जानकारी दी। उप सचिव श्री गिरीश शर्मा ने शपथ-पत्र एवं अभ्यर्थी की निरर्हरता के विभिन्न बिन्दु के बारे में बताया। राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों ने महत्वपूर्ण सुझाव दिये।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने की विधानसभा सत्र की तैयारियों की समीक्षा


13 Jul 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ मंत्रालय में उच्च स्तरीय बैठक में आगामी 17 जुलाई से शुरू हो रहे विधानसभा सत्र की तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने उच्च स्तरीय बैठक में विभागवार विधानसभा प्रश्नों, लंबित आश्वासनों की स्थिति की समीक्षा करते हुए तथात्मक एवं संपूर्ण जवाब देने के निर्देश दिये। बैठक में सभी विभागों के मंत्री, मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह एवं विभाग प्रमुख उपस्थित थे।


aaनालों की सफाई में हीला हवाली नहीं करें-राज्य मंत्री श्री सारंग


12 Jul 2017

सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी, राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने नगर निगम और जिला प्रशासन के अधिकारियों को नालों की पर्याप्त सफाई कराने के निर्देश दिये हैं। राज्य मंत्री श्री सारंग ने आज नरेला विधानसभा क्षेत्रान्तर्गत अशोका गार्डन, दिलकुशा बाग, सुभाष नगर बस्तियों में वर्षाकाल के दौरान जल-भराव वाले लो-लाइन क्षेत्र का भ्रमण किया। इस दौरान एडीएम श्री रत्नाकर झा, एडीशनल कमिश्नर श्री एम.पी. सिंह और अन्य अधिकारी मौजूद थे। राज्य मंत्री श्री सारंग ने कहा कि उन्होंने नालों की सफाई के निर्देश पहले भी दिये थे, परंतु निर्देशों के अनुरूप काम नहीं किया गया। यह अच्छी बात नहीं है। उन्होंने कहा कि अशोका गार्डन, दिलकुशा बाग, महामाई का बाग, सेमरा, सुभाष नगर आदि क्षेत्र में जल-निकासी, नाला लगभग नगर के पानी को ले जाता है। इसमें पानी के बहाव में कचरा रुकावट पैदा करता है, जिससे वर्षाकाल में बाढ़ जैसी हालत पैदा होती है। उन्होंने निर्देश दिये कि नालों की साफ-सफाई समय रहते कराई जाये। राज्य मंत्री श्री सारंग ने वार्ड 69, 41, 40, 71, 39, 36, 38, 37 और 76 की बस्तियों का दौरा कर जल-भराव वाले क्षेत्रों में बचाव और जल-भराव की हालात रोकने के इंतजाम करने के अधिकारियो को निर्देश दिये। स्थानीय पार्षद और नागरिकगण मंत्री श्री सारंग के साथ थे।


aaजीएसटी से हुआ देश का आर्थिक एकीकरण


12 Jul 2017

वित्त एवं वाणिज्यिक कर मंत्री श्री जयंत मलैया ने कहा है कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) ने काश्मीर से कन्याकुमारी तक देश का आर्थिक रूप से एकीकरण किया है। जीएसटी देश की आजादी के बाद आर्थिक क्षेत्र का सबसे बड़ा बदलाव है। इससे देश की तरक्की की रफ्तार को काफी गति मिलेगी। वित्त मंत्री श्री मलैया आज भोपाल के समन्वय भवन में जीएसटी जागरूकता कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे। कार्यशाला में राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता और सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग भी मौजूद थे। वित्त मंत्री श्री मलैया ने कहा कि जीएसटी एक राष्ट्र, एक कर और एक बाजार के उद्देश्य से लागू किया गया है। प्रदेश में एक जुलाई से वाणिज्यिक कर विभाग की 29 चौकी समाप्त हो गयी हैं। उन्होंने कहा कि पहले करीब 18 प्रकार के कर हुआ करते थे। अब इन सबको समाप्त कर एक कर जीएसटी लागू किया गया है। श्री मलैया ने कहा कि मध्यप्रदेश में पूर्व में वेट विधान में व्यवसायियों को पंजीयन लेने की सीमा 10 लाख रुपये वार्षिक टर्न-ओव्हर थी। जीएसटी विधान में यह 20 लाख रुपये वार्षिक टर्न-ओव्हर कर दी गयी है। इसके साथ ही 75 लाख रुपये तक के व्यापारियों को कंपोजिशन की सुविधा भी दी गयी है। जीएसटी कानून में छोटे व्यवसायियों को सुविधा देने के अधिक से अधिक प्रयास किये गये हैं। वित्त मंत्री ने कहा कि बेरियर खत्म होने से सड़कों पर चलने वाले ट्रकों की रफ्तार तेज होगी। देश में जब बेरियर थे, तो ट्रकों में लगने वाले ईंधन में प्रतिवर्ष एक लाख 40 हजार करोड़ रुपये का अनावश्यक खर्च होता था। वित्त मंत्री ने कहा कि अमेरिका में मालवाहक ट्रक प्रतिदिन 800 किलोमीटर की दूरी तय करता है। जब बेरियर थे तब मालवाहक ट्रक देश में केवल 280 किलोमीटर प्रतिदिन की दूरी तय करते थे। अब मालवाहक ट्रकों की रफ्तार प्रतिदिन 350 से 400 किलोमीटर हो जायेगी। इससे व्यापारिक गतिविधियों में तेजी आयेगी। जीएसटी के टैक्स स्लेब की चर्चा करते हुए श्री मलैया ने कहा कि जीएसटी में कर की 5 दरें 0, 5, 12, 18 और 28 प्रतिशत हैं। केवल 19 प्रतिशत वस्तुएँ ऐसी हैं, जिन पर कर की दर उच्चतम अर्थात 28 प्रतिशत है। शेष 81 प्रतिशत वस्तुओं पर 18 प्रतिशत या उससे कम की दरें हैं। वित्त मंत्री श्री मलैया ने जीएसटी को देश के संघीय ढाँचे की बेहतर मिसाल बताया। राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा कि जीएसटी का निर्णय देश की तरक्की और आम जनता की भलाई के लिये लिया गया है। उन्होंने व्यापारियों से जीएसटी के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण रखने की सलाह दी। सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग ने कहा कि जीएसटी को लागू करने का निर्णय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का साहसिक कदम है। इसके अच्छे प्रभाव आने वाले वर्षों में देखने को मिलेंगे। प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर श्री मनोज श्रीवास्तव ने कहा कि देश के संविधान को बनाने के लिये जितनी चर्चा नहीं हुई थी, उससे ज्यादा जीएसटी कानून को बनाने के लिये हुई है। उन्होंने कहा कि जीएसटी कानून में लगातार चर्चा के बाद जनता के हितों को देखते हुए संशोधन किये जायेंगे। उन्होंने हाल ही में किसानों के हित में फर्टिलाइजर में जीएसटी की दर कम किये जाने का उल्लेख किया। कार्यशाला में वाणिज्यिक कर आयुक्त श्री राघवेन्द्र सिंह और सेंट्रल एक्साइज के चीफ कमिश्नर श्री हेमंत भट्ट ने जीएसटी के प्रावधानों के बारे में जानकारी दी। कार्यशाला का संचालन वित्त मंत्री के विशेष कर्त्तव्यस्थ अधिकारी श्री नितिन नांदगांवकर ने किया। कर सलाहकार श्री आर.एस. महेश्वरी ने व्यापारियों की समस्याओं का समाधान किया।


aaकिसानों के हित में किये गये हैं काम


11 Jul 2017

वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया ने कहा है कि प्रदेश में खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिये राज्य सरकार ने किसानों के हित में अनेक बड़े काम किये हैं। प्रदेश में किसानों को कृषि कार्य के लिये जीरो प्रतिशत पर ऋण उपलब्ध करवाया जा रहा है। सिंचाई के रकबे में भी पाँच गुना से अधिक वृद्धि हुई है। पहले जहाँ सिंचाई साढ़े सात लाख हेक्टेयर क्षेत्र में हुआ करती थी, वहीं अब सिंचाई का रकबा बढ़कर 40 लाख हेक्टेयर तक पहुँच गया है। वित्त मंत्री श्री मलैया सोमवार को दमोह कृषि उपज मण्डी में भारतीय किसान संघ के कृषक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। वित्त मंत्री ने कहा कि पिछले 13 साल में बिजली के क्षेत्र में भी उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल की गयी है। पहले बिजली का उत्पादन साढ़े चार हजार मेगावॉट हुआ करता था, जो अब बढ़कर 17 हजार मेगावॉट तक पहुँच गया है। किसानों को कृषि के लिये पर्याप्त बिजली दी जा रही है। विधायक श्री लखन पटेल ने कहा कि इस वर्ष जिले में समर्थन मूल्य पर 13 लाख मीट्रिक टन गेहूँ की खरीदी की गयी है। पहले के सालों में किसानों से मात्र 2 लाख मीट्रिक टन गेहूँ की खरीदी हो पाती थी। कार्यक्रम को जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष श्री राजेन्द्र गुरु ने भी संबोधित किया


aaसी.एम. हेल्पलाईन के आवेदन समय सीमा में हो निराकृत


11 Jul 2017

संभागायुक्त श्री अजातशत्रु श्रीवास्तव ने संभाग के समस्त विभागों के कार्यालय प्रमुखों को निर्देशित किया है कि वे सी.एम. हेल्पलाईन की शिकायतों का निराकरण पूर्ण संतुष्टि के साथ एल-1 अथवा एल-2 स्तर पर कराना सुनिश्चित करें। शतप्रतिशत आवेदनों-शिकायतों का समय सीमा में निराकरण के उद्देश्य से वे प्रतिदिन लंबित आवेदनों की समीक्षा करें। यदि आवेदनों का निराकरण समय सीमा में नहीं होता है अथवा कम गुणवत्ता वाले उत्तर इन्द्राज किए जाते है अथवा बगैर उत्तर इन्द्राज किए कोई शिकायत अगले स्तर पर जाती है तो कारण बताओ नोटिस संबंधित को जारी किए जाएंगे। संभागायुक्त ने लोक सेवा प्रदाय गारंटी अधिनियम अंतर्गत लंबित आवेदनों की समीक्षा के दौरान निर्देशित किया कि आवेदक को समय सीमा में चिन्हित सेवाएं मिलें, यह सभी संबंधित सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि लोक सेवा प्रदाय अंतर्गत प्राप्त आवेदनों की सेवाएं समय सीमा में प्रदाय नहीं करने पर संबंधित के विरूध्द नियमानुसार अर्थदंड अधिरोपित किया जाएगा।


aaजीएसटी जागरूकता पर न्यू मार्केट के समन्वय भवन में 12 जुलाई को कार्यशाला


11 Jul 2017

प्रदेश में व्यवसायियों को वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के प्रावधानों से अवगत करवाने और जागरूकता के उद्देश्य से 12 जुलाई को प्रात: 10 बजे न्यू मार्केट, अपेक्स बैंक परिसर के समन्वय भवन में राज्य-स्तरीय कार्यशाला की जा रही है। वित्त एवं वाणिज्यिक कर मंत्री श्री जयंत मलैया मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद रहेंगे। अध्यक्षता राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता करेंगे। प्रदेश में जीएसटी कानून एक जुलाई से लागू हो गया है। जीएसटी एक कर, एक राष्ट्र और एक बाजार के उद्देश्य को लेकर लागू किया गया है। कार्यशाला में व्यापारियों की जिज्ञासाओं का समाधान भी किया जायेगा। कार्यशाला वाणिज्यिक कर विभाग द्वारा की जा रही है।


aaराज्य प्रशासनिक सेवा जनता की सेवा का सशक्त माध्यम - मुख्यमंत्री श्री चौहान


10 Jul 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राज्य प्रशासनिक सेवा जनता की सेवा का सशक्त माध्यम है। उन्होंने कहा कि इस सेवा में लोगों की मूलभूत आवश्यकताओं और लोक सेवाओं के प्रदाय के प्रति सचेत और संवेदनशील बने रहना आवश्यक है। श्री चौहान आज मंत्रालय में राज्य प्रशासनिक सेवा के प्रशिक्षु अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान ने प्रशिक्षु अधिकारियों को प्रशासन के क्षेत्र में काम करने और सफल होने की समझाईश दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रशिक्षु अधिकारियों से कहा कि वे जनता के लिये हमेशा उपलब्ध रहें और निर्विकार भाव से उनकी सेवा करें। उन्होंने कहा कि सेवा तभी हो सकती है जब सेवाभाव अंतर्मन से उपजे। बलपूर्वक सेवा नहीं की जा सकती। श्री चौहान ने कहा कि सार्वजनिक जीवन में काम करते हुये यह अनुभव होगा कि लोक ही महत्वपूर्ण है। उन्होंने प्रशिक्षु अधिकारियों को सलाह दी कि जब लोकतंत्र में लोक सर्वोपरि है तो लोगों के प्रतिनिधियों को भी बराबर का सम्मान दें। उन्होंने कहा कि विभिन्न प्रशासनिक अंगों के बीच समन्वय और सहयोग स्थापित करना अच्छे प्रशासक की निशानी है। इससे प्रशासन के सभी अंग एक साथ, एक उददेश्य के लिये प्रभावी रूप से कार्य संपादित कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि नैतिक मूल्यों की बुनियाद मजबूत होना जरूरी है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अधिकारियों को समय प्रबंधन के प्रति सजग और सचेत रहने की सलाह देते हुये कहा कि प्रत्येक क्षण लोगों के कल्याण में बीते तो सुशासन की स्थापना करने में समय नहीं लगता। उन्होंने अधिकारियों का आव्हान किया कि पूरी प्रतिबद्धता, लगन और मेहनत के साथ प्रदेश को आगे बढ़ायें। अपनी सकारात्मक ऊर्जा और प्रतिभा का उपयोग करें। इस अवसर पर प्रशासनिक अकादमी की महानिदेशक श्रीमती कंचन जैन, सचिव मुख्यमंत्री श्री विवेक अग्रवाल एवं अन्य वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित थे।


aaऐसी व्यवस्था बनायें जिसमें जनता को कोई परेशानी नहीं हो


10 Jul 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राज्य सरकार जनता के लिये है। ऐसी व्यवस्था बनायें जिसमें जनता को कोई परेशानी नहीं हो। जनता की दिक्कतों को सहन नहीं किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान मंत्रालय में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से राजस्व और ऊर्जा विभाग की समीक्षा कर रहे थे। इस मौके पर राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसानों को खसरा-खतौनी की नकलें नि:शुल्क घर-घर जाकर देने के अभियान की कार्य-योजना बनायें। यह अभियान आगामी 15 अगस्त से शुरू होगा। आवासहीन गरीब परिवारों को पट्टे देने के लिये बनाये गये अधिनियम के तहत आबादी भूमि का चिन्हांकन कर घोषित करने की कार्रवाई करें। प्रत्येक आवासहीन को आवास उपलब्ध करवाने के अभियान के लिये तैयारियाँ करें। अभियान आगामी 25 सितम्बर के बाद शुरू होगा। राजस्व और ऊर्जा विभाग सीधे आम जनता से जुड़े विभाग हैं। इनसे जुड़ी विभिन्न सेवा को समय-सीमा में दिया जाये। लोक सेवा गारंटी अधिनियम के तहत इनकी सेवाएँ समय पर दिये जाने की सभी कलेक्टर मॉनीटरिंग करें। उन्होंने कहा कि सभी कलेक्टर एक सप्ताह में जानकारी भेंजे कि उनके जिले में राजस्व संबंधी प्रकरण समय-सीमा में निराकरण नहीं करने वाले अधिकारियों के विरुद्ध क्या कार्रवाई की गयी है। समय-सीमा से अधिक के लंबित प्रकरणों का निराकरण प्राथमिकता से करवयें। राजस्व अधिकारी निर्धारित दिनों पर अपने राजस्व न्यायालय में बैठे और उसे पोर्टल पर दर्ज करवायें। शासकीय भूमि से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई मानवीय दृष्टिकोण से करें। किसी गरीब को हटाने से पहले उसके आवास की वैकल्पिक व्यवस्था करें जबकि किसी प्रभावशाली व्यक्ति के अतिक्रमण को तुरंत हटायें। वर्षा ऋतु में आकस्मिक आपदाओं से निपटने की तैयारियाँ करें। जलजनित बीमारियों की रोकथाम की तैयारियाँ करें। फसल कटाई प्रयोग किसानों के सामने किये जायें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कृषि पम्प जितने हार्सपॉवर का हो उसके अनुरूप ही बिल दिया जाये। ट्रांसफार्मर बदलने के लिये निर्धारित समय-सीमा का कड़ाई से पालन किया जाये। अस्थाई कृषि पम्प कनेक्शन को स्थाई में बदलने का अभियान चलायें। विद्युत आपूर्ति से संबंधित समस्याओं का निराकरण ग्राम स्तर तक जाकर किया जाये। ऊर्जा विभाग के अधिकारी क्षेत्र में भ्रमण करें। विद्युत आपूर्ति की लगातार मॉनीटरिंग की जाये, कहीं भी अघोषित विद्युत कटौती नहीं हो। राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने कहा कि पटवारियों के प्रशिक्षण पर विशेष ध्यान दिया जाये। जिस भूमि का अधिग्रहण किया जाये उसका मुआवजा शीघ्र देना चाहिये। जमीन अधिग्रहण मुआवजे के प्रकरण यदि किसी जिले में लंबित है तो उसका तत्काल निराकरण करें। इसके लिये पर्याप्त बजट उपलब्ध है। सभी जिला कलेक्टर विधानसभा प्रश्नों के उत्तर समय-सीमा में भिजवायें। बताया गया कि राजस्व विभाग द्वारा गिरदावरी एप तैयार किया गया है। जिसे सभी पटवारियों के मोबाईल पर डाउनलोड किया जायेगा। प्रदेश में एक हजार 420 राजस्व न्यायालय हैं। बीते नौ माह में इनमें 3 लाख 53 हजार राजस्व प्रकरणों का निराकरण किया गया है। इसमें नामांतरण, बँटवारा, सीमांकन, डायवर्सन और अतिक्रमण प्रकरण शामिल हैं। पटवारियों के 9 हजार 126 पदों की पूर्ति की कार्रवाई की जा रही है। ऊर्जा विभाग की 15 सेवाएँ लोक सेवा गारंटी अधिनियम के दायरे में हैं। ग्रामोदय से भारत उदय अभियान में ग्राम पंचायत स्तर पर ऊर्जा विभाग द्वारा बिजली संबंधी शिकायतों के निराकरण के लिये शिविर लगाये गये थे। शिविर के माध्यम से करीब एक लाख शिकायतों का निराकरण किया गया है। कृषि पम्पों के अस्थाई कनेक्शनों को स्थाई में बदलने के 42 हजार 500 कार्य-आदेश दिये गये हैं। वीडियो कान्फ्रेंसिंग के दौरान अपर मुख्य सचिव ऊर्जा श्री इकबाल सिंह बैस, प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरूण पाण्डेय, प्रमुख सचिव कृषि डॉ. राजेश राजौरा और मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल और श्री एस.के. मिश्रा सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।


aaमास्टर ट्रेनर्स एवं मूर्तिकारों को प्रशिक्षण


10 Jul 2017

एप्को के मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्री अनुपम राजन ने आज ग्रीन गणेश अभियान-2017 का शुभारंभ सभी संभागीय मुख्यालयों के एनजीसी-मास्टर ट्रेनर्स तथा प्रमुख मूर्तिकारों के प्रशिक्षण कार्यक्रम से किया। प्रशिक्षण में सभी संभाग के दो-दो मास्टर ट्रेनर और चार-चार मूर्तिकार शामिल हुए। श्री राजन ने मूर्तिकारों से सामान्य मिट्टी एवं प्राकृतिक रंगों का उपयोग कर छोटे आकार की मूर्तियाँ बनाकर विक्रय करने का अनुरोध किया। श्री राजन ने कहा कि पीओपी और रासायनिक रंगों से बनायी गयी बड़े आकार की मूर्तियों के विसर्जन के गंभीर दुष्प्रभाव हमारी नदी, तालाब, झील आदि पर पड़ते हैं। दुष्प्रभाव से विषाक्त पानी वनस्पति, पशु-पक्षी और मानव स्वास्थ्य के लिये काफी हानिकारक हो जाता है। मुख्य अभियंता श्री अनूप श्रीवास्तव ने कार्यशाला की अवधारणा और उद्देश्यों की जानकारी दी। प्रथम तकनीकी सत्र में सर्वश्री राजेश रायकवार, जे.पी. नामदेव और कमलेश वर्मा ने प्रतिभागियों को पीओपी से बनने वाली मूर्तियों के सामाजिक एवं पर्यावरणीय प्रभाव, मिट्टी से मूर्ति-पर्यावरणीय समाधान, ग्रीन गणेश अभियान में मास्टर ट्रेनर्स तथा मूर्तिकारों की भूमिका, प्रदेश में पाई जाने वाली 7 प्रकार की मिट्टी और मूर्ति बनाने के लिये इनके उपयोग में मिलायी जाने वाली चीजें, मिट्टी की तैयारी आदि की जानकारी दी। प्रतिभागियों को ग्रीन गणेश अभियान-2016 की फिल्म भी दिखायी गयी। द्वितीय सत्र में सहायक वास्तुविद श्री कमलेश वर्मा और उनके सहयोगियों ने प्रतिभागियों को मूर्ति निर्माण का प्रशिक्षण दिया। विभिन्न जिलों से आये हुए प्रतिभागियों ने अपनी समस्याएँ सामने रखने के साथ ही विभिन्न सुझाव भी दिये। अभियान का दूसरा चरण भोपाल, जबलपुर, इंदौर, उज्जैन और रीवा संभाग के मुख्यालयों पर जुलाई के अंतिम सप्ताह में और तृतीय चरण 16 से 23 अगस्त तक होगा।


aaराजस्व मंत्री ने काटजू और जे.पी. हास्पिटल में सुनी मरीजों की समस्याएँ


10 Jul 2017

राजस्व, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने सुबह काटजू और जे.पी. हास्पिटल में मरीजों की समस्याएँ सुनीं। श्री गुप्ता ने काटजू हास्पिटल में मरीजों की लम्बी लाइन होने पर उनके बैठने की व्यवस्था करने के निर्देश दिये। जे.पी. हास्पिटल में एक मरीज ने कहा कि दवाई लेने के लिए देर तक खड़े रहना पड़ता है, यहाँ बेंच रखवाने के साथ ही एक और विंडो में दवाई का वितरण करवाया जाये। श्री गुप्ता ने आवश्यकतानुसार सुविधा उपलब्ध करवाने की बात कही। उन्होंने कहा कि हास्पिटल की समस्याओं के निराकरण के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तथा विभागीय अधिकारियों से भी चर्चा की है। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaउद्योग मंत्री श्री शुक्ल ने आई.ए.एस. में चयनित सुश्री सुरभि को दी बधाई


7 Jul 2017

उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने सतना जिले की मैहर तहसील के ग्राम अमदरा की सुश्री सुरभि गौतम को आई.ए.एस. में चयनित होने पर बधाई एवं शुभकामनाएँ दी है। श्री शुक्ल ने कहा कि सुश्री सुरभि ने ग्राम अमदरा और विन्ध्य के साथ ही प्रदेश का गौरव बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि सुश्री सुरभि ने साबित कर दिया है कि ग्रामीण परिवेश में रहकर भी ऊँचाईयों पर पहुँचा जा सकता है।


aaदेश में सबसे सस्ता इलाज दिलाने में मध्यप्रदेश अव्वल


7 Jul 2017

मध्यप्रदेश देश का ऐसा पहला राज्य बन गया है, जहाँ जेब पर अधिक बोझ डाले बिना मरीजों को अच्छा इलाज मिल रहा है। राज्य के शासकीय चिकित्सालयों में नि:शुल्क जाँच, उपचार, परिवहन और भर्ती मरीजों को नि:शुल्क आहार सुविधा मिल रही है। पिछले एक साल में राज्य के अस्पतालों की ओपीडी में 5 करोड़ और विभिन्न बीमारियों से ग्रस्त 52 लाख मरीजों ने भर्ती होकर स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ लिया। मध्यप्रदेश को यह अवार्ड इंदौर में स्वास्थ्य नवाचारों पर चल रहे राष्ट्रीय सम्मेलन में दिया गया। प्रदेश के चिकित्सालयों में वितरण के लिये 400 से अधिक प्रकार की दवाइयाँ उपलब्ध हैं। सर्वाधिक उपयोग में आने वाली जेनेरिक दवाएँ 24 घंटे चिकित्सालयों में नि:शुल्क उपलब्ध करवायी जा रही हैं। जिला चिकित्सालय में 48 प्रकार की, सिविल अस्पताल में 32, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में 16 और ग्राम आरोग्य केन्द्र में 5 प्रकार की नि:शुल्क जाँच की जा रही हैं। बीपीएल मरीजों को डायलिसिस सुविधा पूरी तरह नि:शुल्क और एपीएल मरीजों को मात्र 500 रुपये प्रति सत्र की दर पर दी जा रही है। वैसे इसके लिये रोगी को माह में लगभग 20-25 हजार तक व्यय करना पड़ता था। डायबिटीज मरीजों के लिये नि:शुल्क डायबिटीज क्लीनिक हैं। सभी जिलों में नि:शुल्क कैंसर उपचार और कीमोथैरेपी उपलब्ध है। सभी जिलों में संजीवनी-108 एम्बुलेंस सेवा है। पाँच साल से पुराने एम्बुलेंस वाहनों को बदला जा रहा है। गर्भवती महिलाओं को अस्पताल ले जाने और प्रसूति के बाद वापस घर छोड़ने की नि:शुल्क परिवहन सुविधा है। साठ वर्ष से अधिक उम्र के मरीजों की नि:शुल्क जाँच और उपचार के लिये प्रत्येक जिले में जिरियाटिक वार्ड भी हैं। मानसिक रोगियों को 13 प्रकार की दवाइयाँ नि:शुल्क दी जा रही हैं। प्रतिदिन लगभग 30 हजार रोगियों को नाश्ता एवं दो समय का भोजन नि:शुल्क दिया जाता है। गंभीर बीमारी से ग्रस्त लोगों के लिये राज्य बीमारी सहायता-निधि, मुख्यमंत्री बाल ह्रदय उपचार योजना, बाल श्रवण योजना, दीनदयाल अंत्योदय योजना आदि हैं। क्षय रोगियों को नि:शुल्क निदान एवं उपचार सुविधा मिल रही है। नेत्र परीक्षण कर कमजोर दृष्टि वाले स्कूली बच्चों को नि:शुल्क चश्मे प्रदाय किये जाते हैं। गंभीर बीमारियों से ग्रस्त महिलाओं के लिये जिला चिकित्सालयों में रोशनी क्लीनिक की स्थापना की गयी है।


aaइंदौर में राष्ट्रीय स्वास्थ्य नवाचार सम्मेलन का दूसरा दिन


7 Jul 2017

इंदौर में चल रहे तीन-दिवसीय राष्ट्रीय स्वास्थ्य सम्मेलन के दूसरे दिन विभिन्न राज्यों ने अपने-अपने नवाचार साझा किये। प्रतिनिधियों ने मातृ-शिशु स्वास्थ्य, संचारी-असंचारी रोग नियंत्रण, अस्पताल प्रबंधन, शहरी स्वास्थ्य मिशन, स्वास्थ्य तकनीकी, सामुदायिक स्वास्थ्य प्रक्रियाओं, अधोसंरचना विकास तथा स्वास्थ्य सेवा गुणवत्ता पर आधारित नवाचारों पर प्रस्तुतिकरण दिया। विशेषज्ञ चिकित्सक कमी पूर्ति के लिये डिप्लोमा कोर्स तमिलनाडु में विशेषज्ञ चिकित्सकों की कमी दूर करने के लिये एक नया प्रयोग किया गया है। इसमें राज्य शासन जिला चिकित्सालयों में विशेषज्ञ सेवाओं का विस्तार कर एमबीबीएस चिकित्सकों को जिला अस्पताल में प्रशिक्षित कर डीएनबी कोर्स करवा रहा है। यह डिप्लोमा स्नातकोत्तर डिग्री के समकक्ष है। इससे मेडिकल कॉलेजों में पी.जी. सीट बढ़ाये बिना ही विशेषज्ञ चिकित्सकों की पूर्ति हो सकेगी। तमिलनाडु में इस डिप्लोमा के लिये 100 सीट निर्धारित की गयी हैं। प्रसूति बाद मृत्यु से बचाने तकनीकी महाराष्ट्र के विशेषज्ञों ने प्रसव के बाद महिलाओं में होने वाले अत्यधिक रक्त-स्त्राव से होने वाली मृत्यु रोकने के लिये किये गये प्रयासों पर प्रस्तुतिकरण दिया। महाराष्ट्र के वर्धा मेडिकल कॉलेज की टीम ने यूटीराइन बैलून टेम्पोनेड तकनीक विकसित की है, जिससे कम कीमत पर अधिक रक्त-स्त्राव से होने वाली मौतों से महिलाओं को बचाया जा सकेगा। विशेष सचिव दर्जा ओडीसा की टीम ने बेहतर नीतिगत निर्णय लेने के लिये पब्लिक हेल्थ केडर के अधिकारियों को राज्य शासन में विशेष सचिव का दर्जा दिये जाने संबंधित नवाचार पर प्रस्तुतिकरण दिया। पहुँचविहीन क्षेत्रों में पद-स्थापना आकर्षक बनी छत्तीसगढ़ शासन ने दुर्गम तथा पहुँचविहीन क्षेत्रों में चिकित्सकों और विशेषज्ञों की पद-स्थापना आकर्षक बनाने के नवाचार साझा किये। वहाँ स्वास्थ्य संस्थाओं में चिकित्सकों के लिये सुविधायुक्त आवास उपलब्ध करवाने के साथ उनके परिवारों को भी आवश्यक सुविधाएँ दी जा रही हैं। चिकित्सकों के वेतन प्रावधानों को लचीला एवं आकर्षक बनाया गया है। इससे दूरस्थ क्षेत्रों में चिकित्सकों की संख्या बढ़ी है। मध्यप्रदेश के नवाचारों को मिली सराहना सम्मेलन में मध्यप्रदेश के नवाचारों के प्रस्तुतिकरण को भी सराहना मिली। मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम में प्रत्येक जिला अस्पताल में स्थापित किये गये विशेष स्क्रीनिंग, परामर्श तथा चिकित्सा इकाई (मन कक्ष) की सराहना की गयी। गर्भवती महिलाओं में डायबिटीज की जाँच के लिये होशंगाबाद जिले में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू किये गये नवाचार का भी प्रस्तुतिकरण किया गया। शासकीय स्वास्थ्य संस्थाओं के भवनों के व्यवस्थित तथा दूरगामी आवश्यकताओं के अनुरूप निर्माण कार्य को व्यवस्थित बनाने के लिये शासन द्वारा अस्पताल प्लानर नियुक्त कर निर्माण कार्य की योजना तथा गुणवत्ता सुधार के नामांतरण को भी विशेष सराहना प्राप्त हुई। अंग प्रत्यारोपण के लिये विशेष प्राधिकरण तमिलनाडु शासन द्वारा अंग प्रत्यारोपण के लिये एक विशेष प्राधिकरण स्थापित किया गया है। यह नवाचार अंग प्रत्यारोपण प्रक्रिया को सरल, सुगम और सुचारु बनाने में सहायक होगा। इंदौर संभागायुक्त ने इंदौर में प्रत्यारोपण के लिये मानव अंगों के परिवहन के लिये तैयार किये गये ग्रीन कॉरिडोर के अनुभव को साझा किया। केन्द्रीय संयुक्त सचिव श्री मनोज झालानी की अध्यक्षता में आरंभ इस सत्र में प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्रीमती गौरी सिंह, आयुक्त श्रीमती पल्लवी जैन गोविल, मिशन संचालक डॉ. संजय गोयल, श्री व्ही. किरण गोपाल और इंदौर संभागायुक्त श्री संजय दुबे भी उपस्थित थे।


aa2 जुलाई का महा वृक्षारोपण अभियान


6 Jul 2017

नर्मदा बेसिन क्षेत्र में महा वृक्षारोपण के सरकार के संकल्‍प से प्रेरित होकर 2 जुलाई को हुए सामुहिक विवाह कार्यक्रम में परिणय-बंधन में बँधे वर-वधु सात फेरों के बाद वृक्षारोपण में शामिल होने से अपने को रोक नहीं पाये। मौका था दमोह के जटाशंकर धाम में मुख्यमंत्री कन्या विवाह कार्यक्रम जिसमें 70 जोड़ों में एक निःशक्त और एक विधवा ने भी नव दाम्पत्य जीवन में प्रवेश किया। दीनदयाल पार्क में पौधारोपण कर वर-वधु दोनों ही खुश नजर आये। यह शायद पहला मौका था जब वर-वधुओं ने फेरों के तत्काल बाद पौधारोपण किया। पौधे लगाने वाले दम्पत्तियों में प्रमुख रूप से श्री बबलू-नन्नी, श्री दौलत-उमा, श्री दुर्गा-राधा, श्री मोहन-दसोदा और श्री अरविन्द-आरती शामिल थे। इन नव दम्पत्तियों के अनुसार मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने वृहद पौधा रोपण का जो अभियान चलाया है, वह सराहनीय है। मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के इस कार्यक्रम में प्रदेश के वित्त, वाणिज्यिक कर मंत्री जयंत कुमार मलैया भी शामिल हुए। श्री मलैया ने नव दम्पत्तियों द्वारा पौधारोपण की प्रशंसा कर उन्हें शुभकामनाएँ दी। साम्प्रदायिक सदभाव भी दिखा पौध रोपण में जबलपुर के लम्हेटाघाट में हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई समुदाय के लोगों ने पूरे उत्साह के साथ पौधा-रोपण में सहभागिता की। इस प्रकार पौधारोपण साम्प्रदायिक सौहार्द का प्रतीक भी बना। इसी तरह कटनी जिले की बहोरीबंद तहसील के परिसर में अपने पिता द्वारा पौधों का महत्व बताने से प्रेरित 6 वर्षीय आयुष सिंह (नानू) ने भी अपने पिता श्री अजय सिंह के साथ पौधा रोपा। बच्चियों ने दिया पर्यावरण बचाने का संदेश इंदौर जिले की देवगुराड़िया पहाड़ी पर मूसाखेड़ी में रहने वाली दो बहनों कंचन एवं रूचि चौरसिया ने अपनी मम्मी के साथ इधर-उधर बिखरी हुई पॉलीथिन की थैलियाँ एकत्रित कर पर्यावरण बचाने का संदेश दिया।। बुरहानपुर जिले के ग्राम पिपराना में सेवा सदन स्कूल के विद्यार्थी बस में स्वयं गेंती, फावड़े और पौधे रखकर ले गये और उत्साहपूर्वक पौधे लगायें। पौध रोपण वाले प्रत्येक गाँव को एक स्कूल द्वारा गोद लिया गया। एसडीएम ने किया बच्ची के मान का सम्मान बड़वानी जिले की रोसेश्वर पहाड़ी पर एसडीएम राजपुर श्रीमती रिजू बाफना ने महिला श्रमिक की छोटी बच्ची की इच्छा का सम्मान करते हुए उसके साथ मिलकर पौधा रोपण किया। पहाड़ी पर पौधरोपण करने वालों में कक्षा पाँचवीं में पढ़ने वाली जुड़वा बहने कुमारी रीना एवं कुमारी टीना पटेल भी सम्मिलित थी। इन बच्चियों ने अपने पिता श्री ओम प्रकाश पटेल के साथ आकर पौधा रोपण किया। इस पहाड़ी पर पौधा लगाने वाले विद्यार्थी को ग्रीन पासपोर्ट का वितरण भी कलेक्टर द्वारा किया गया। इस ग्रीन पासपोर्ट में जहाँ विद्यार्थी की समुचित जानकारी दर्ज करने का स्थान नियत है वहीं उसके द्वारा लगाए गए पौधों की फोटो भी लगाने की व्यवस्था है। इस पासपोर्ट में विद्यार्थी अपने लगाये गये पौधे की सचित्र जानकारी अगले 20 साल तक की दर्ज कर सकता है। दादी की याद में लगाया पौधा इसी जिले के साकेत इंटरनेशनल स्कूल, अंजड़ में कक्षा 8वीं में पढ़ने वाली छात्रा कुमारी भूमिका व्यास ने अपनी दादी श्रीमती विमलादेवी व्यास की याद में पौधा लगाया। उसने प्रण लिया कि दादी को तो वह नहीं बचा पाई किन्तु अपनी दादी की याद में पौधे को अवश्य बचाकर बढ़ा करेगी। सहरिया आदिवासियों ने भी लगाये पौधे दतिया जिले के भाण्डेर विकासखण्ड के ग्राम नोवई में सहरिया आदिवासियों ने आँवले के पौधे लगाकर उनके पालन-पोषण एवं रखवाली की शपथ ली।


aaनेशनल जूनियर फेंसिंग चैम्पियनशिप की पदक विजेता खिलाड़ियों ने खेल मंत्री से की भेंट


6 Jul 2017

महाराष्ट्र के नासिक में पिछले दिनों आयोजित राष्ट्रीय जूनियर तलवारबाजी प्रतियोगिता में एक स्वर्ण, तीन रजत और दो कांस्य पदक जीतने वाले फेंसिंग अकादमी के खिलाड़ियों ने खेल और युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया से भेंट की। नेशनल जूनियर फेंसिंग चैम्पियनशिप की स्वर्ण पदक विजेता कु. पूजा दांगी, रजत पदक विजेता कु. खुशी दबाड़े, कु. निशा तायडे और कु. तनिशा मालवीय तथा कांस्य पदक विजेता कनिका मिश्रा ने टी.टी. नगर स्टेडियम में खेल मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया से भेंटकर उन्हें अपनी उपलब्धि से अवगत कराया। खेल मंत्री ने पदक विजेता खिलाड़ियों को बधाई दी और उन्हें आगामी स्पर्धाओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए प्रोत्साहित किया। संचालक खेल और युवा कल्याण श्री उपेन्द्र जैन ने फेंसिंग खिलाड़ियों के प्रदर्शन की सराहना करते हुए उन्हें शाबाशी दी। गौरतलब है कि उक्त खिलाड़ियों ने फेंसिंग अकादमी के मुख्य प्रशिक्षक श्री भूपेन्द्र सिंह के नेतृत्व में चैम्पियनशिप में भागीदारी कर पदक अर्जित किए और प्रदेश को गौरवान्वित किया।


aaसहकार के बिना उद्धार नहीं और संस्कार के बिना सहकार नहीं


6 Jul 2017

सहकारिता राज्य मंत्री स्वंतत्र प्रभार श्री विश्वास सारंग ने कहा है कि सहकार के बिना उद्धार नहीं और संस्कार के बिना सहकार नहीं है। राज्य मंत्री श्री सारंग आज हबीगंज स्टेशन के पास भोपाल दुग्ध संघ प्लांट का अवलोकन करने के बाद दुग्ध सहकारी संघ द्वारा आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। राज्य मंत्री श्री सारंग ने कहा कि सहकारिता से हम विकास के इच्छित लक्ष्य प्राप्त करते है। संस्कार के बिना सहकार नहीं होता। उन्होंनें सहकारी संघ से जुड़े जन-प्रतिनिधियों, अधिकारियों-कर्मचारियों को परस्पर समझ के साथ तेजी से काम करने की सलाह दी। राज्य मंत्री श्री सारंग ने कहा कि भोपाल दुग्ध संघ भोपाल-होशंगाबाद संभाग के सभी जिला और शाजापुर जिला सहित 13 जिलों की 3000 दुग्ध उत्पादक सहकारी समितियों से दूध का संकलन कर रहा हैं। कुल 96 हजार 606 पशुपालक,किसान उत्पादन समितियों के सदस्यों से रोजाना 2 लाख 90 हजार लीटर के आसपास दूध का संग्रहण होता है। यह उल्लेखनीय उपलब्धि है। परन्तु मार्केट की डिमांड इससे कही ज्यादा है। डिमांड को ध्यान में रख 4 लाख लीटर रोजना दुग्ध संग्रण के लक्ष्य को भोपाल दुग्ध संघ प्राप्त करें। सहकारिता विभाग पूरी मदद करेगा। श्री सारंग ने दुग्ध संघ के प्लांट का अवलोकन किया। उन्होंने कहा कि प्लांट में सभी व्यवस्थाएँ मानक स्तर के अनुरूप है। भोपाल दुग्ध संघ का साँची दूध और सभी 14 दुग्ध उत्पाद गुणवत्ता में सर्वश्रेष्ठ है। प्रबंध निदेशक दुग्ध संघ, डॉ. अरूण गुप्ता ने कहा कि साँची, अमूल के पेटर्न से किसी मामले में कम नहीं है। दुग्ध संघ जल्दी ही बच्चों के लिये फ्लेवर्ड मिल्क पायलट जिला के तौर पर भोपाल जिला से देना शुरू करेगा। इस अवसर पर सीईओ दुग्ध संघ श्री दीपेन्द्र सिंह राजे, भोपाल दुग्ध संघ अध्यक्ष श्री मस्तान सिह राजपूत, डायरेक्टर सर्वश्री लक्ष्मीनारायण परमार, प्रेमसिंह तोमर, गिरीश पालीवाल, घनश्याम बारस्कर, कमल सिंह, श्रीमती ममता यादव कर्मचारी यूनियन पदाधिकारी मौजूद थे। दुग्ध संघ पदाधिकारियों और बोर्ड संचालक के साथ हुई बैठक में राज्य मंत्री श्री सारंग ने भोपाल दुग्ध संघ को प्रगति के पथ पर आगे बढ़ाने की बात कही। कार्यक्रम की शुरूआत में राज्य मंत्री श्री सारंग ने दुग्ध संघ प्रांगण में आम का पौधा लगाया।


aaसड़कों के रख-रखाव की कार्ययोजना बनाएँ : मुख्यमंत्री श्री चौहान


4 Jul 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मध्यप्रदेश सड़क विकास निगम के संचालक मंडल की 34वीं बैठक आज मंत्रालय में संपन्न हुई। इस अवसर पर लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निगम द्वारा किये जा रहे कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने सड़कों के रख-रखाव की कार्ययोजना बनाने के निर्देश देते हुए कहा कि वर्षा ऋतु से पूर्व सभी सड़कों का निरीक्षण करवा लिया जाए। वर्षा ऋतु में जिन सड़कों के खराब होने की आशंका हो, उसका समय रहते मरम्मत कार्य पूर्ण करवाया जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश में बीओटी अंतर्गत निर्मित प्रथम सड़क इंदौर- इच्छापुर के रख-रखाव के संबंध में जानकारी प्राप्त की। उनको बताया गया कि 201 किलोमीटर लंबाई की सड़क का डामरीकरण किया जाएगा। विभाग द्वारा मुख्यमंत्री को आश्वस्त किया गया की सड़कों को चालू रखने संबंधी कार्य किए जा रहे हैं। पेंच रिपेयर का कार्य निरंतर जारी रहेगा। सागर-जबलपुर मार्ग पूर्ण हो गया है। जबलपुर से सागर मात्र 2 घंटे की यात्रा हो गई है। बैठक में बताया गया कि वर्ष 2016-17 के दौरान 543 करोड़ रुपये व्यय कर 257 किलोमीटर लंबे राज्य राजमार्गों का निर्माण कार्य पूरा हुआ है। इसी तरह 983 करोड़ रुपए व्यय कर 460 किलोमीटर लंबे मुख्य जिला मार्गों का भी निर्माण पूर्ण हुआ है। वर्ष 2017-18 के दौरान 1613 किलोमीटर लंबी सड़कों का निर्माण पूर्ण होगा। इन कार्यों पर 3,757 करोड़ रुपए व्यय होंगे। एडीबी परियोजना-5 के अंतर्गत कुल 1456 किलोमीटर लंबाई की सड़कें निर्माणाधीन है। निर्माण पर 2,328 करोड़ रुपए व्यय किए जाएंगे। एनडीबी परियोजनाओं के अंतर्गत 1640 किलोमीटर लंबी सड़कें निर्माणाधीन हैं जिन पर कुल 3,093 करोड़ रुपए व्यय होंगे। एडीबी छठी परियोजना के अंतर्गत 2200 किलोमीटर लंबी सड़कों का निर्माण प्रस्तावित है। इस कार्य पर 4,657 करोड़ रुपए व्यय होंगे। इसी तरह एडीबी सातवीं परियोजना में 1663 करोड़ रुपए की 800 किलोमीटर लंबी सड़कों के निर्माण की योजना है। बैठक में अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए.पी. श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव वन श्री दीपक खांडेकर, प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग श्री प्रमोद अग्रवाल, प्रबंध संचालक मध्यप्रदेश सड़क विकास निगम श्री मनीष रस्तोगी, सचिव खनिज विभाग श्री मनोहर दुबे भी उपस्थित थे।


aaराजस्व मंत्री एवं महापौर ने किया भूमि-पूजन


4 Jul 2017

पुरानी जेल परिसर स्थित शासकीय तात्या टोपे माध्यमिक शाला का जीर्णोद्धार किया जायेगा। छत पक्की की जायेगी। इसके लिए महापौर द्वारा 15 लाख रूपये स्वीकृत किए गए हैं। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता और महापौर श्री आलोक शर्मा ने जीर्णोद्धार कार्यों का भूमि-पूजन किया। राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने कहा कि बच्चे अच्छे से पढ़ाई करें क्योंकि आज की प्रतिस्पर्धा में 60 प्रतिशत अंकों से काम नहीं चलेगा। उन्होंने शिक्षकों से कहा कि विद्यार्थियों को बेहतर शिक्षा दें। श्री गुप्ता ने शासन की जन-कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी। महापौर ने कहा कि स्कूल में 5 अतिरिक्त कक्ष बनवाने के साथ ही 3 कम्प्यूटर भी दिये जायेंगे। स्कूल के पास सी.सी. रोड़ भी बनवायी जायेगी। उन्होंने कहा कि टी.टी. नगर को तात्या टोपे नगर ही बोलें और लिखें। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन ने बिजली नगर में वृक्षारोपण किया


4 Jul 2017

ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन ने मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के मुख्यालय परिसर में आज एक दर्जन से अधिक विभिन्न प्रजाति के पौधों का रोपण किया। प्रबंध संचालक श्री एम. सेलवेन्द्रन सहित अधिकारियों और कर्मियों ने भी वृक्षारोपण कार्यक्रम में हिस्सा लिया। मुख्यालय परिसर में इस दौरान 50 से अधिक पौधे लगाए गए। ऊर्जा मंत्री श्री जैन ने वृक्षारोपण के महत्व को रेखांकित किया। उन्होंने वृक्षों को मानव के जीवन-दर्शन से जोड़ते हुए कहा कि प्रत्येक बिजली-कर्मी अपने जन्मदिन पर एक पौधा अवश्य लगाए। यह जब वृक्ष का रूप धारण करेगा तब पौधा लगाने वाले को जो आत्मीय सुख प्राप्त होगा, उसकी वह कल्पना भी नहीं कर सकता। इस अवसर पर अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।
औषधालय का अवलोकन
श्री पारस जैन ने बिजली नगर स्थित मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के औषधालय का अवलोकन किया। उन्होंने प्रयोगशाला, फिजियोथैरेपी सेन्टर, दवाई वितरण और मरीजों को दी जाने वाली सुविधाओं और सेवाओं की जानकारी ली। इस अवसर पर कंपनी के प्रबंध संचालक श्री एम. सेलवेन्द्रन भी उपस्थित थे।
पत्रिका का लोकार्पण
ऊर्जा मंत्री ने कंपनी के मुख्यालय में समाचार पत्रिका ‘‘मध्य क्षेत्र विद्युत संदेश‘‘ के नये अंक का लोकार्पण किया। पत्रिका कंपनी के आंतरिक एवं बाह्य संचार का बखूबी कार्य कर रही है। ऊर्जा मंत्री ने पत्रिका में प्रकाशित विषय-वस्तु की सराहना कर उसे उपयोगी बताया।


aaस्किल इंडिया की प्रभावी पहल ग्लोबल स्किल्स पार्क - मुख्यमंत्री श्री चौहान


3 Jul 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जहाँ एक ओर हमारे यहाँ बेरोजगारी की समस्या है वहीं दुनिया में हुनरमंद व्यक्तियों की कमी है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने दूरदृष्टि के साथ स्किल इंडिया द्वारा इस दिशा में सार्थक कोशिश की है। प्रधानमंत्री के प्रयासों में सर्वश्रेष्ठ योगदान के लिये प्रदेश संकल्पित है। ग्लोबल स्किल्स पार्क इस दिशा में प्रभावी पहल है। श्री चौहान आज आर.सी.वी.पी. नरोन्हा प्रशासन एवं प्रबंधकीय अकादमी में ग्लोबल स्किल्स पार्क के शिलान्यास और ग्लोबल कंसलटेशन ऑन स्किल डेवलपमेंट कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में तकनीकी प्रशिक्षण का नया दौर शुरू हो गया है। औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थाओं का कायाकल्प हो रहा है। उनमें आगामी 5 वर्षों में आधुनिकतम व्यवसायों की प्रशिक्षण व्यवस्था उपलब्ध हो जायेगी। उन्होंने युवाओं का आव्हान किया कि वे न्यू इंडिया निर्माण के लिये हुनरमंद बनें। विकास की अनंत संभावनाएँ हैं। उन्होंने कहा कि दुनिया की बड़ी युवा शक्ति हमारे पास है। यदि इसे हुनरमंद कर दिया जाये तो वर्तमान समय की कमजोरी बड़ी आबादी, भविष्य में हमारी ताकत बन जायेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में गुणवत्तापूर्ण तकनीकी शिक्षा के लिये प्रभावी कार्य किए गए हैं। व्यवसायिक शिक्षा के प्रसार के साथ ही, उसकी गुणवत्ता को भी सुनिश्चित किया गया है। स्तरहीन प्रशिक्षण संस्थाओं को चिन्हित कर बंद करवाने के कार्य किये गये हैं। करीब 37 संस्थाओं को बंद कर दिया गया है और लगभग 70 संस्थाओं पर कार्रवाई की जा रही है। यह निर्णय इसलिये लिया गया ताकि छात्रों के भविष्य के साथ कोई खिलवाड़ नहीं कर सके। श्री चौहान ने कहा कि शिक्षा के प्रमुख तीन उद्देश्य होते हैं। ज्ञान, कौशल और संस्कार। शिक्षा प्रणाली में यह उद्देश्य संतुलित तरीके से प्राप्त नहीं हो सकने के कारण बेरोजगारों की ऐसी फौज खड़ी हो गई है, जो केवल किताबी ज्ञान संपन्न है। प्रदेश में प्रयास किया गया है कि जो शैक्षणिक शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं उन्हें उसका पूरा अवसर मिले। वही व्यवसायिक शिक्षा प्राप्त करने वालों को भी सरकार का भरपूर सहयोग मिले। राज्य में मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना लागू की गई है। योजना में मेधावी छात्रों को चाहे वे मेडिकल-इंजीनियरिंग शिक्षण संस्थाओं में अथवा व्यवसायिक शिक्षा के शिक्षण केन्द्रों में प्रवेश लेते हैं उनकी फीस राज्य सरकार द्वारा भरवाने की व्यवस्था की गई है। प्रयास है कि प्रतिभा की उन्नति में धन की कमी बाधा नहीं बने। मुख्यमंत्री ने प्रदेश में गत दिवस करीब साढ़े छह करोड़ पौधों का रोपण करने के लिये प्रदेश की जनता के प्रति आभार ज्ञापित किया। पर्यावरण को बचाने और पृथ्वी के बढ़ते तापमान को नियंत्रित करने के प्रयासों के प्रति जनता के कर्त्तव्य-पालन के लिये बधाई प्रेषित की। केन्द्रीय कौशल विकास एवं उद्यमिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री राजीव प्रताप रूड़ी ने कहा कि मेक इन इंडिया को सफल बनाने के लिये मेकर्स ऑफ इंडिया की आवश्यकता है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने स्किल इंडिया द्वारा इस दिशा में विजनरी पहल की है। उनके प्रयासों को पूरा करने में मध्यप्रदेश की अग्रणी भूमिका है। उन्होंने कहा कि देश-प्रदेश में जिस तेजी और दूरदर्शिता के साथ विकास की कोशिशें हो रही हैं, उनसे यह आभास हो रहा है कि विकास के सफल प्रयासों को देखने के लिये दुनिया के दूसरे देश यहाँ आयेंगे। उन्होंने प्रदेश में स्किल इंडिया की दिशा में किये जा रहे कार्यों की व्यापक सराहना करते हुए कहा कि कौशल उन्नयन के प्रयासों में मध्यप्रदेश अग्रणी राज्य है। केन्द्र सरकार के कौशल उन्नयन के सभी कार्यक्रमों तथा योजनाओं को एक साथ करने वाला मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है। प्रदेश ने आईटीआई की ऑनलाइन परीक्षा संचालित कर अन्य राज्यों को इस दिशा में पहल के लिये प्रेरित किया है। विभिन्न व्यवसायिक प्रशिक्षणों की आधुनिक सुविधाओं का उल्लेख करते हुए श्री रूड़ी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कौशल उन्नयन के विभिन्न कार्यक्रमों को एक मंत्रालय में समाहित कर विजनरी पहल की है। आई.टी.आई को कौशल उन्नयन विभाग में शामिल किया है। देश तेजी से गुणवत्तापूर्ण व्यवसायिक शिक्षा की ओर बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रचलित व्यवसायिक शिक्षा की प्रचलित प्रणाली में गुणवत्ता का पूर्णत: अभाव था। आई.टी.आई. के 13 हजार संस्थानों में 127 पाठ्यक्रम संचालित होते हैं, जिनमें से मात्र इलेक्ट्रिकल और फिटर ट्रेडों में 18 लाख, अन्य 9 ट्रेडों में मात्र एक लाख और शेष में एक लाख विद्यार्थी प्रवेश लेते हैं। जबकि वर्तमान समय में उद्योगों की आवश्यकता एक ही ट्रेड में अलग-अलग तरह के विशेषज्ञ प्रशिक्षण की है। उन्होंने कहा कि डिग्री आधारित बेरोजगारों की फौज खड़ी करने वाली शिक्षा प्रणाली पर विचार किया जाना चाहिये। केन्द्रीय मंत्री ने प्रदेश में पौध-रोपण के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि ग्लोबल स्किल्स पार्क एक ऐतहासिक कदम है। व्यवसायिक प्रशिक्षण के लिये 650 करोड़ रुपये की विशाल धनराशि का निवेश सरकार की दूरदृष्टि का प्रमाण है। प्रदेश के तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री दीपक जोशी ने कहा कि प्रदेश सरकार प्रधानमंत्री की पहल मेक इन इंडिया, डिजिटल इण्डिया और स्किल इंडिया को सफल बनाने के लिये प्रतिबद्ध प्रयास कर रही है। आई.टी.आई. को अग्रणी संस्थान बनाने के प्रयास हुए हैं। आई.टी.आई. चलें अभियान द्वारा प्रदेश में 5 लाख युवाओं को व्यवसायिक शिक्षा से जोड़ा जा रहा है। इउनमें से 70 प्रतिशत का रोजगार स्थापित कराने का प्रयास किया जायेगा। उन्होंने कहा कि ग्लोबल स्किल्स पार्क युवाओं के जीवन में परिवर्तन का मील का पत्थर साबित होगा। विश्व प्रसिद्ध क्रिकेटर श्री के.श्रीकांत ने कहा कि ग्लोबल स्किल्स पार्क की पहल देश में कौशल उन्नयन के प्रयासों का मार्गदर्शन करेगी। उन्होंने कहा कि परियोजना का प्रारूप उसकी सुपर सक्सेस को बता रहा है। एशियन डेवलपमेंट बैंक की सुश्री सॉगवान ली ने कहा कि भारत की स्किल इंडिया पहल में बैंक द्वारा तकनीकी सहयोग किया जा रहा है। मध्यप्रदेश की परियोजना बैंक की देश में 5वीं परियोजना है। इससे देश में व्यावसायिक प्रशिक्षण की संस्थानात्मक व्यवस्था में मजबूती आयेगी। उन्होंने परियोजना में निरंतर सहयोग का आश्वासन दिया। आईटीईईएस सिंगापुर के श्री ब्रूस पो ने कहा कि स्किल्स पार्क प्रदेश की आर्थिक, सामाजिक विकास प्रक्रिया को नई गति देगा। प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव ने परियोजना की जानकारी दी। मुख्य कार्यपालन अधिकारी ग्लोबल स्किल्स पार्क श्री संजीव सिंह ने आभार माना। कार्यक्रम में पार्क के आकल्पन पर आधारित लघु फिल्म का प्रदर्शन किया गया। अतिथियों का बुक और पेन भेंट कर अभिनंदन किया गया। प्रारंभ में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री रूड़ी के साथ अकादमी के प्रांगण में नीम वृक्ष के पौधों का रोपण किया।


aaकौशल विकास केन्द्र आदर्श बनाये जायेंगे- मुख्यमंत्री श्री चौहान


3 Jul 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की आज केन्द्रीय कौशल विकास एवं उद्यमिता राज्य मंत्री श्री राजीव प्रताप रूडी के साथ बैठक हुई। इस दौरान प्रदेश में संचालित कौशल विकास केन्द्रों के उन्नयन और प्रशिक्षण पर चर्चा हुई। श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के युवाओं को हुनरमंद बनाने के लिये औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान और कौशल विकास केन्द्रों को आदर्श बनाया जायेगा। श्री रूडी ने बताया कि हर जिले में प्रधानमंत्री कौशल केन्द्र स्थापित किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि युवाओं को हुनरमंद बनाकर स्व-रोजगार और रोजगार हासिल करने के काबिल बनाने के लिये प्रशिक्षण पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। प्रदेश में 133 कौशल विकास केन्द्र खोले गये हैं। हर जिले में आदर्श कौशल विकास केन्द्र स्थापित करने की योजना है। इनमें रोजगारोन्मुखी लघु अवधि के प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित किये जायेंगे। उन्होंने दिव्यांगों के प्रशिक्षण संबंधी योजना के प्रस्ताव और व्यावहारिक बनाने के लिये अधिकारियों को निर्देशित किया। इसमें केन्द्र से सहयोग की अपेक्षा है। प्रदेश में संचालित एस.सी.वी.टी. ट्रेड को एन.सी.वी.टी. में शामिल करने के लिये ऑफ लाइन आवेदन की व्यवस्था करने का अनुरोध किया गया। केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री रूडी ने बताया कि प्रत्येक जिले में प्रधानमंत्री कौशल केन्द्र खोले जायेंगे। मध्यप्रदेश में 17 केन्द्र स्थापित किये जा चुके हैं। इनमें मानक स्तर का प्रशिक्षण दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि केन्द्र से प्रदाय की गई राशि का प्रशिक्षण में उपयोग किया जाये। प्रशिक्षण गुणवत्तापूर्ण होना चाहिये। प्रशिक्षण के लिये धनराशि की कमी नहीं होगी। उन्होंने छोटी-छोटी संस्थाओं की प्रभावी मॉनीटरिंग व्यवस्था करने की अपेक्षा व्यक्त की। बैठक में प्रदेश के तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री अशोक वर्णवाल, प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव, संचालक कौशल विकास श्री संजीव सिंह आदि उपस्थित थे।


aaमंत्रालय में होगी ई-ऑफिस की शुरूआत


3 Jul 2017

राज्य शासन के निर्देश पर मंत्रालय में ई-ऑफिस प्रक्रिया शुरू की जा रही है। आने वाले समय में फाइल का मूवमेंट कम्प्यूटर के माध्यम से होगा। निर्णय के परिपालन में आई.टी. के प्रमुख सचिव श्री हरिरंजन राव की अध्यक्षता में प्रोजेक्ट इम्पलीमेंटेशन कमेटी बनायी गयी है जो हर सप्ताह इस पर विचार-विमर्श करेगी। राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य को यह जानकारी सामान्य प्रशासन विभाग की समीक्षा बैठक में दी गयी। बैठक में प्रमुख सचिव श्रीमती सीमा शर्मा उपस्थित थीं। बताया गया कि प्रक्रिया के तहत ई-ऑफिस चेम्पियन (ध्वजवाहक) बनाये गये हैं। चेम्पियन और सभी उप सचिव को स्टेट आई.टी. सेंटर ले जाकर प्रक्रिया से अवगत करवाया गया है। मंत्रालय स्थित आई.टी. कक्ष में सभी विभाग के दो-दो मास्टर ट्रेनर को ट्रेण्ड किया गया है। मास्टर ट्रेनर की जिम्मेदारी उनके अधीनस्थ को ट्रेण्ड करने की होगी। वर्तमान समय में अनुभाग अधिकारी और पर्सनल असिस्टेंट की ट्रेनिंग चल रही है। प्रक्रिया के लिये सर्वर को डेटा सेंटर में स्थापित किया गया है। इसमें रेम बढ़ाने की प्रक्रिया और बजट का फिर से प्रावधान करवाया जा रहा है। डेटा रिकवरी के लिये दिल्ली या अन्य स्थान पर बेकअप स्थापित करने की सहमति के अनुसार बजट प्रावधान करवाया जा रहा है। फाइलों के डिजिटाइजेशन के लिये प्रक्रिया चल रही है। कम्प्यूटर क्रय करने जैसे विभिन्न मुद्दों पर भी विचार किया जा रहा है। प्रथम चरण में 9 विभागों को शामिल किया गया है। इसमें सामान्य प्रशासन, कार्मिक, खनिज, विमानन, लोक सेवा प्रबंधन, जल-संसाधन, लोक निर्माण, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और पर्यटन विभाग हैं। प्रक्रिया का परीक्षण 12 जुलाई को होगा। इसमें एक-दो फाइल पास की जायेंगी। ई-ऑफिस के लिये सबका अपना यूजर पासवर्ड अलग-अलग होगा। तीन-चार माह में प्रक्रिया धरातल पर आ जायेगी।
सी.एम. हेल्पलाइन के 4 प्रकरण में आवेदक से मंत्री ने जानी उनकी संतुष्टि
राज्य मंत्री श्री आर्य ने सी.एम. हेल्पलाइन के चार प्रकरण में आवेदक से फोन पर बात कर उनकी संतुष्टि को जाना। राज्य मंत्री श्री आर्य ने रामकृष्ण जाटव और मुरैना के कालीचरण जोशी से उनके आवेदन के बारे में चर्चा की। इस पर उन्होंने बताया कि उनके जाति प्रमाण-पत्र बनाने का काम समय से हो गया है। श्री आर्य ने आवेदक श्री सचिन बिथुआ से बात की तो उन्होंने बताया कि उनके परिजन का मृत्यु प्रमाण-पत्र उन्हें प्राप्त हो गया है। इसी प्रकार राज्य मंत्री ने शिवपुरी के आवेदक श्री मनोज भार्गव से बात की तो पता चला कि वर्ष 2014 में हुए निर्वाचन के समय की ड्यूटी की राशि 9000 उसे प्राप्त हो गयी है। बाकी ढाई-तीन हजार की राशि उसे अभी तक प्राप्त नहीं हुई। इस पर मंत्री ने तत्काल कलेक्टर को फोन पर चर्चा कर सी.एम. हेल्पलाइन के प्रकरण क्रमांक और दिनांक नोट करवाकर तत्काल कार्यवाही करने के निर्देश दिये। साथ ही उन्होंने कहा कि फाइल निकलवाकर परीक्षण करें कि बाबू उन्हें अकारण परेशान तो नहीं कर रहा।


aa2 जुलाई को मध्यप्रदेश में होगा सदी का महावृक्षारोपण


1 Jul 2017

बदलाव की संवाहक साफ नीयत और दृढ़ इच्छा-शक्ति होती है। खासतौर से तब जब प्रकृति में पैदा असंतुलन को दूर कर उसका नैसर्गिक रूप देना हो या नदियों को सदानीरा बनाना हो। मध्यप्रदेश 'नमामि देवि नर्मदे- सेवा यात्रा' के माध्यम से पिछले छह माह में इस बात का गवाह रहा है कि कैसे प्रकृति को बचाने , नदियों को बचाने की कोशिश जन-आंदोलन में बदलती है। न केवल मध्यप्रदेश बल्कि सारे देश और विश्व ने इसे देखा और सराहा। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में संचालित 'नमामि देवि नर्मदे' सेवा यात्रा ने विश्व मानवता को यह संदेश दिया कि नदियाँ बढ़ती आबादी, औद्योगीकरण और जलवायु परिवर्तन के नित नये खतरों के बावजूद बचायी जा सकती है। इस यात्रा के दौरान न केवल जनमानस नदी के संरक्षण के खातिर जागरूक हुआ बल्कि उसमें नदी को प्रदूषित करने वाले, उसके अविरल प्रवाह को रोकने वाले स्वयं के व्यवहार में भी बदलाव आया। जनमानस समझ गया कि नदी है तो वह है, उसकी संतति है और है भावी पीढ़ियों का संरक्षित जीवन।
2 जुलाई को 6 करोड़ से ज्यादा पौधों का रोपण
नदी संरक्षण खासतौर से नर्मदा नदी के संरक्षण की मुहिम को पुख्ता आधार देने के लिये नर्मदा यात्रा के बाद अब 2 जुलाई को मध्यप्रदेश में नर्मदा के दोनों तट के किनारों और नदी के जलग्रहण क्षेत्र वाले कुल 24 जिलों में 6 करोड़ पौधे लगाने का सदी का सबसे बड़ा महावृक्षारोपण कार्य किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अब तक सरकार द्वारा किये जाते रहे पौधा रोपण कार्य को भी नर्मदा यात्रा की तर्ज पर जन-अभियान के रूप में ही संचालित करने का फैसला लिया है। इस फैसले के अनुरूप ही 2 जुलाई के महावृक्षारोपण की तैयारियाँ की गई। यह तैयारियाँ 2 जुलाई को वृक्षारोपण के विश्व रिकार्ड के रूप में परिणत होगी, जब एक साथ एक दिन 6 करोड़ पौधे लगेंगे। माँ नर्मदा इन पौधों के साल-दर साल वृक्ष बनने के साथ न केवल हरियाली चूनर से आच्छादित होगी बल्कि उसका अविरल प्रवाह भी भावी पीढ़ियों के लिये वरदान बनेगा।
नर्मदा बेसिन क्षेत्र
नर्मदा नदी की कुल लम्बाई 1312 किलोमीटर की है। मध्यप्रदेश में नर्मदा नदी की कुल लम्बाई 1079 किलोमीटर है, जो कुल लम्बाई का 82.24 प्रतिशत है। इस सांख्यिकी से साफ जाहिर है कि नर्मदा के संरक्षण का महती कार्य मध्यप्रदेश में ही होना है और मध्यप्रदेश को ही करना है। नर्मदा नदी का बेसिन 98 हजार 796 वर्ग किलोमीटर में फैला है। इसमें भी मध्यप्रदेश का हिस्सा 86.19 प्रतिशत अर्थात कुल 85 हजार 149 वर्ग किलोमीटर का है।
मध्यप्रदेश नर्मदा बेसिन के 24 जिले में होगा वृक्षारोपण
नर्मदा बेसिन में मध्यप्रदेश के 24 जिले आते हैं। इनमें डिंडौरी, मण्डला, जबलपुर, नरसिंहपुर, होशंगाबाद, रायसेन, सीहोर, हरदा, देवास, खण्डवा, खरगोन, धार, बड़वानी,अलीराजपुर, अनूपपुर, बालाघाट, कटनी, दमोह, सागर, सिवनी, छिन्दवाड़ा, बैतूल, इन्दौर और बुरहानपुर जिला शामिल है। नर्मदा नदी के कैचमेन्ट एरिया के इन्हीं जिलों में 2 जुलाई, 2017 को एक दिवसीय वृक्षारोपण में 6 करोड़ पौधों का रोपण किया जाना है। वृक्षारोपण का यह महती कार्य वन क्षेत्रों में, स्कूल, कॉलेज, शासकीय कार्यालयों के प्रांगण, अन्य सामुदायिक भूमियों और निजी भूमियों पर किया जायेगा।
सरकार और समाज की भागीदारी से होगा वृक्षारोपण
वृक्षारोपण में वन, ग्रामीण विकास, कृषि उद्यानिकी, नगरीय प्रशासन, स्कूल शिक्षा, उच्च शिक्षा विभाग, जन-अभियान परिषद और अन्य शासकीय विभाग की भूमिका रहेगी। एक दिवसीय इस वृक्षारोपण में शासन के सभी विभागों के समस्त अधिकारियों/कर्मचारियों को भाग लेने के लिये प्रेरित किया गया है। भोपाल मुख्यालय, जिला मुख्यालय स्तर, विकास खण्ड एवं ग्राम स्तर पर पदस्थ अधिकारी-कर्मचारी का वृक्षारोण में भाग लेना सुनिश्चित किया गया है। वृक्षारोपण में भाग लेने हेतु online रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था की गई। इसके अनुसार www.namamidevinarmade.mp.gov.in पर निजी व्यक्ति, शासकीय संस्थाएँ, सामाजिक एवं धार्मिक संस्थाएँ, महिला मंडल, क्लब्स ने आदि ने वृक्षारोण में शामिल होने के लिये रजिस्ट्रशन करवाया। दिनांक 28 जून 2017 की स्थिति में 5 लाख 89 हजार लोगों द्वारा ऑनलाइन पंजीकरण करवाया जा चुका था। रोपण के लिये आवश्यक पौधों की व्यवस्था वन विभाग, उद्यानिकी विभाग एवं निजी रोपणियों से की जा रही है। आवश्यक फलदार पौधे अन्य राज्यों से भी प्राप्त किये जा रहे हैं। पौधा लगाने के लिये गढ्ढा खुदाई कार्य सभी विभागों ने अपने-अपने लक्ष्यों के अनुसार लगभग पूर्ण कर लिया है। रोपित पौधों के सत्यापन के लिये प्रत्येक रोपण स्थल पर अधिकारी/कर्मचारी तैनात किये गये हैं।
रोपी जाने वाली मुख्य प्रजातियाँ
वृक्षारोपण में सागौन लगभग 20 प्रतिशत, बॉस 15 प्रतिशत,औषधीय पौधे यथा ऑवला, अर्जुन, बेल, नीम हर्रा, बहेड़ा आदि 20 प्रतिशत, फलदार पौधे यथा जामुन, जाम, सीताफल, नींबू, आम, अनार, शहतूत आदि 5 प्रतिशत क्षेत्र में, अन्य लघु वनोपज प्रजातियाँ जैसे महुआ, इमली, अचार, कुल्लू, कुसुम आदि 5 प्रतिशत क्षेत्र में और साजा, सिरस, सुरजना, कटहल, पीपल, बरगद, कदम्ब आदि प्रजातियाँ 35 प्रतिशत क्षेत्र में रोपी जायेंगी।
बनेगा विश्व रिकार्ड
नर्मदा बेसिन क्षेत्र/कैचमेंट क्षेत्र के जिलों में 2 जुलाई को किये जाने वाले वृक्षारोपण कार्य का विश्व रिकार्ड बनाये जाने के लिये तैयारियाँ की गयी हैं। विश्व रिकार्ड के Category Most trees Planted in 12 hours (team)- multiple locations में रोपण कार्य किया जायेगा। रोपण कार्य सुबह 7.00 बजे से शाम 7.00 बजे तक 12 घन्टे की अवधि में होगा । प्रत्येक रोपण-स्थल की जी.पी.एस. रीडिंग ली जायेगी । साथ ही प्रत्येक रोपण-स्थल पर रोपित पौधे के सत्यापन के लिये 4-4 घंटे के लिये दो-दो विटनेस एवं रोपण में भाग ले रहे प्रत्येक 50 व्यक्तियों के सत्‍यापन के लिये एक-एक स्टीवर्ड की नियुक्ति जिले के विभिन्न विभागों के शासकीय अधिकारी/कर्मचारियों में से कलेक्टर द्वारा की गई। प्रत्येक जिले में नियुक्त इन विटनेस एवं स्टीवर्डस को प्रशिक्षण भी दिया गया है। प्रत्येक रोपण-स्थल के लिये जिला स्तर पर कोड नम्बर एवं राज्य स्तरीय सीरियल नम्बर दिये गये हैं। रोपण-स्थल पर रोपण दिनांक को रोपण कार्य की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी कराने की व्यवस्था भी की गई है।
पौधारोपण मूल्यांकन एवं निगरानी व्यवस्था
इस महावृक्षारोण कार्यक्रम में लगाये जाने वाले पौधों के रोपण के बाद उनके मूल्यांकन और निगरानी की व्यवस्था भी की गई है। इस व्यवस्था में महात्मा गाँधी नरेगा योजना के जॉबकार्डधारी परिवारों को पौध रक्षक बनाया गया है। पौधरक्षक को पौधे के संधारण एवं जीवित रखने के लिए 03 से 05 वर्ष तक मजदूरी का भुगतान किया जायेगा। ग्राम पंचायतों को पर्यवेक्षण के लिये राशि का प्रावधान किया गया है। साथ ही पौध-रोपण कार्यों का क्वालिटी मॉनिटर्स के माध्यम से निरीक्षण भी करवाया जायेगा। वन विभाग, विभागीय योजना के माध्यम से पौधों का नियमित संधारण करेगा। इसके अलावा एनजीओ, स्व-सहायता समूह, स्कूल्स एवं सामाजिक संस्थाओं के माध्यम से भी पौधों के संरक्षण का कार्य किया जायेगा।
जिलेवार वृक्षारोपण लक्ष्य
2 जुलाई, 2017 को नर्मदा कैचमेन्ट के 24 जिलों में 667 लाख 50 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है इनमें से अनुपपूर जिले में 10.50 लाख पौधे, डिण्डौरी में 33 लाख, मण्डला में 50 लाख, जबलपुर में 42 लाख, कटनी में 6 लाख, इन्दौर में 15 लाख, धार में 37 लाख, अलीराजपुर में 30 लाख, देवास में 45 लाख, सीहोर में 25 लाख, रायसेन में 35 लाख, होशंगाबाद में 55 लाख, हरदा में 46.50 लाख, बैतूल में 25 लाख, छिन्दवाड़ा में 16 लाख, सिवनी में 30 लाख, नरसिंहपुर में 50 लाख, खण्डवा में 35 लाख, बुरहानपुर में एक लाख, खरगोन में 48 लाख, बड़वानी में 25 लाख, दमोह में 2 लाख, सागर में 2 लाख और बालाघाट जिले में 3.50 लाख पौधे लगाये जायेंगे। प्रकृति प्रदत्त वन आवरण का तो प्रदेश को ईश्वरीय वरदान मिला ही हुआ है। दिनांक 2 जुलाई को मध्यप्रदेश मानव निर्मित हरीतिमा का इतिहास रचने जा रहा है। यह ऐसी क्रांति का आगाज है, जो माँ नर्मदा को सदानीरा बनाने के लिये हैं, नदी संरक्षण के प्रति जागरूकता और उसे कार्यरूप में परिणत करने की है। पर्यावरण संरक्षण, प्रदूषण की रोकथाम और जलवायु परिवर्तन जनित खबरों के प्रति मध्यप्रदेश की सरकार और समाज की यह पहल नर्मदा घाटी को उसका हरित और जैव विविधीय वैभव लौटाने का माध्यम बनने के साथ सच्चे अर्थों में नर्मदा को प्रदेश की जीवन-रेखा बनायेगा। यही विश्वास है और कामना भी।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान से केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने की सौजन्य भेंट


1 Jul 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने आज मुख्यमंत्री निवास में सौजन्य भेंट की। केन्द्रीय मंत्री ने मुख्यमंत्री से प्रदेश के विकास के विभिन्न विषयों पर चर्चा की।


aaजनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र बैतूल में वृक्षारोपण महाअभियान में शामिल होंगे


1 Jul 2017

जनसंपर्क, जल-संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र 2 जुलाई को बैतूल पहुँचेंगे। डॉ. मिश्र बैतूल में आयोजित वृक्षारोपण महाअभियान में शामिल होंगे। तत्पश्चात जल संसाधन विभाग के कार्यों की समीक्षा करेंगे। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र इसी दिन शाम को भोपाल लौटेंगे।


aaप्रदेश के लॉजिस्टिक हब बनने की अपार संभावनाएँ


30 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से चीनी प्रतिनिधि-मंडल ने आज निवास पर भेंट की। इस अवसर पर गुआंग्शी विकास और सुधार आयोग के महानिदेशक श्री फांगकांग हुआंग और प्रमुख सचिव उद्योग-वाणिज्य श्री मोहम्मद सुलेमान मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि देश में 'एक कराधान व्यवस्था' एक जुलाई से लागू हो जायेगी। नई व्यवस्था से देश की हृदय-स्थली मध्यप्रदेश के महत्वपूर्ण लॉजिस्टिक हब बनने की संभावनाएँ प्रबल हुई हैं। निवेश और व्यापार की और अधिक बेहतर संभावनाएँ निर्मित होगी। उन्होंने प्रतिनिधि-मंडल से इस परिप्रेक्ष्य में निवेश की संभावना को तलाशने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि प्रदेश निवेश का आदर्श स्थल है। यहाँ निवेश मित्र वातावरण और नीतियाँ हैं। आश्वस्त किया कि निवेश हेतु आवश्यक जानकारियाँ, सूचनाएँ उपलब्ध करवाने में, उन्हें पूरा सहयोग किया जायेगा। सरकार निवेशकों का सदैव सहयोग करती है, भविष्य में भी करेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रतिनिधि-मंडल का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि चीन यात्रा में उनके द्वारा दिए गए आमंत्रण पर, चीनी प्रतिनिधि-मंडल के आने से वे अत्यंत हर्षित हैं। आशा व्यक्त की कि इस यात्रा से दुनिया के दो प्राचीन महान राष्ट्रों के मध्य पारस्परिक व्यापारिक संभावना को विस्तार मिलेगा। उनके मध्य निकटता बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि पीथमपुर में चीनी कंपनी लिउगोंग मशीनरी कंपनी लिमिटेड को सरकार का पूरा सहयोग मिला है। नये निवेशकों को भी उसी तरह पूरा सहयोग दिया जायेगा। प्रतिनिधि-मंडल द्वारा बताया गया कि प्रदेश में स्थापित औद्योगिक इकाई द्वारा स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध करवाया गया है। उत्पाद भारतीय बाजार के साथ ही अन्य देशों को निर्यात भी किये जा रहे हैं। प्रतिनिधि-मंडल में नैननिंग विकास और सुधार आयोग के निदेशक श्री वी डिंग, गुआंग्शी विकास और सुधार आयोग के हाईटेक उद्योग प्रभाग निदेशक यी झोंग, विदेशी पूँजी उपयोग और विदेशी निवेश प्रभाग निदेशक श्री तियानचेंग वू, औद्योगिक अर्थ-व्यवस्था प्रभाग निदेशक श्री यीचुआन ली, पश्चिमी क्षेत्र विकास प्रभाग उप निदेशक श्री सुयू तन, प्रबंध निदेशक लिउगोंग इंडिया श्री वू सांग और ट्रायफेक के अपर प्रबंध संचालक श्री वी. किरण गोपाल उपस्थित थे।


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने द्वारका जाने वाले यात्रियों का स्वागत किया


30 Jun 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने मुख्य मंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में द्वारका जाने वाले यात्रियों का पुष्पहार से स्वागत किया। उन्होंने यात्रियों को यात्रा के दौरान मिलने वाली सुविधाओं के बारे में जानकारी भी दी। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaगुरू पूर्णिमा के दिन होगा गुरूवे नम: महोत्सव


29 Jun 2017

विद्यार्थियों में अपने देश की गौरवशाली संस्कृति, संस्कार, परम्परा एवं नैतिक मूल्यों के अंकुरण के भाव जागृत करने, गुरू-शिष्य अन्तर संबंधों और गुरू की महत्ता को पुनर्स्थापित करने के उद्देश्य से इस वर्ष 10 जुलाई को गुरू पूर्णिमा पर प्रदेश के सभी शासकीय महाविद्यालयों में 'गुरूवे नम:' कार्यक्रम होंगे। शासकीय महाविद्यालयों के प्राचायों से कहा गया है कि एक साथ, एक ही समय पूर्वान्ह 11 बजे कार्यक्रम किया जाए। कार्यक्रम गुरू-शिष्य परम्परा के विषय पर हो और विद्याथियों द्वारा महाविद्यालयीन गुरूजनों का सम्मान किया जाये। कार्यक्रम में दीप प्रज्जवलन, गुरू-वंदना, प्रकोष्ठ गीत, प्राचार्य एवं इकाई समन्वयक द्वारा स्वागत भाषण एवं कार्यक्रम की रूपरेखा पर प्रकाश, तिलक, माला, शॉल-श्रीफल इत्यादि से गुरूजनों का विद्यार्थियों द्वारा सम्मान, विद्यार्थियों द्वारा 'अज्ञान रूपी अमावस्या में ज्ञान प्रकाश रूपी पूर्णिमा है- गुरूदेव' विषय पर भाव-विचार अभिव्यक्ति, अतिथियों द्वारा आर्शीवचन, आभार-प्रदर्शन और राष्ट्र गान होगा।


aaपर्यटन निगम के स्वामित्व में आया होटल लेकव्यू अशोका


29 Jun 2017

भोपाल में श्यामला हिल्स स्थित इंडियन टूरिज्म डेवलपमेंट कार्पोरेशन के होटल लेकव्यू अशोका को अब मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम द्वारा संचालित किया जायेगा। आज नई दिल्ली में शेयर ट्रांसफर एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर किये गये। भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय में हुए एमओयू से होटल लेकव्यू अशोका मध्यप्रदेश पर्यटन विकास निगम के पूर्णत: स्वामित्व में आ गया है। भविष्य में इसका नाम 'होटल लेकव्यू' होगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने इस संबंध में स्वयं पहल कर भारत सरकार को पत्र लिखा था। मुख्यमंत्री श्री चौहान, पर्यटन एवं संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा एवं पर्यटन निगम के अध्यक्ष श्री तपन भौमिक ने इस निर्णय का स्वागत करते हुए पर्यटन निगम को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं। इस मौके पर प्रदेश के पर्यटन सचिव एवं निगम के एमडी श्री हरि रंजन राव एवं कंपनी सचिव श्री संदेश यशलाहा और होटल अशोका लेकव्यू के जनरल मैनेजर श्री अविनास गजरानी मौजूद थे। प्रतिष्ठित होटल लेकव्यू अशोका 3 स्टार श्रेणी का है। इसमें 4 सूइट, 39 डीलक्स रूम, स्वीमिंग पूल, रेस्टोरेंट आदि सुविधाएँ उपलब्ध हैं। होटल की प्रमुख विशेषता यह है कि यहाँ से बड़े तालाब का बड़ा ही सुन्दर नजारा दिखता है।


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने किया सी.सी. रोड का भूमि-पूजन


29 Jun 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने बजरंग शादी हॉल के पास सी.सी. रोड का भूमि-पूजन किया। श्री गुप्ता ने कार्य समय-सीमा में पूरा करवाने के निर्देश दिये। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaमध्यप्रदेश में दो जुलाई को वृक्षारोपण का इतिहास रचा जायेगा- श्री चौहान


28 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में दो जुलाई को वृहद वृक्षारोपण का इतिहास रचा जायेगा। इस दिन नर्मदा बेसिन में जन-सहभागिता से 6 करोड़ से ज्यादा पौधे लगाये जायेंगे। इसकी तैयारियाँ युद्ध स्तर पर चल रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस महत्वाकांक्षी जन-अभियान की तैयारियों की आज वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने नर्मदा बेसिन से संबंधित जिलों में वृक्षारोपण की तैयारियों की समीक्षा करते हुए कहा कि इस जन-अभियान को जन-महोत्सव का रूप दिया जाये। इसमें सामाजिक, धार्मिक, सांस्कृतिक, राजनैतिक एवं सभी संगठनों तथा किसान, व्यापारी, विद्यार्थी, सरकारी कर्मचारी आदि सभी वर्गों की सहभागिता सुनिश्चित की जाये। पौधों, गड्डे एवं लोगों की पर्याप्त व्यवस्था रखी जाये। श्री चौहान ने कहा कि इस महाभियान से नर्मदा सेवा मिशन का सबसे बड़ा संकल्प पूरा होगा। यह पर्यावरण बचाने का महायज्ञ है। इससे जन-संगठनों और जनता को जोड़ने के लिये अभिनव प्रयोग किये जाये। प्रत्येक जिला अपना लक्ष्य पूरा करेगा। उन्होंने वृक्षारोपण के बाद पौधों की सुरक्षा और देखभाल की व्यवस्था भी सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि पौधे निर्धारित स्थान पर पहुँच जाये तथा इसमें सहयोग के लिये लोगों का पंजीयन भी बढ़ाया जाये। मुख्यमंत्री ने जनता की सहभागिता बढ़ाने के लिये जिलों में किये गये नवाचारों पर प्रसन्नता व्यक्त की। साथ ही तैयारियों पर संतोष व्यक्त किया। श्री चौहान ने कहा कि वे स्वयं अमरकंटक, जबलपुर एवं खंडवा जिलों में वृक्षारोपण कार्यक्रम में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि वृक्षारोपण महाअभियान का शुभारंभ मॉ नर्मदा के चित्र पर माल्यार्पण कर एवं नर्मदा गीत से किया जाये। इसमें जन-संगठनों, जनता और जन-प्रतिनिधियों की भागीदारी हो। उन्होंने प्रत्येक जिले के कलेकटर से लक्ष्य पौधों की उपलब्धता, गड्डों की स्थिति और जन-सहभागिता की जानकारी ली। समीक्षा के दौरान वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे। साथ ही जिलों में सांसद, विधायक एवं अन्य जन-प्रतिनिधि मौजूद थे।


aaमुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना में 28 जून तक हुए 3536 रजिस्ट्रेशन


28 Jun 2017

मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना में 28 जून तक 3536 रजिस्ट्रेशन हो चुके हैं। मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना का लाभ माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा करवायी जाने वाली 12वीं परीक्षा में 75 प्रतिशत या उससे अधिक अथवा सी.बी.एस.ई./ आई.सी.एस.ई. की 12वीं की परीक्षा में 85 प्रतिशत या उससे अधिक अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को मिलेगा। विद्यार्थी के पालक की आय 6 लाख रुपये से कम होना चाहिए। विद्यार्थी का आधार नम्बर भी जरूरी है। तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री दीपक जोशी ने सभी पात्र विद्यार्थियों से अपील की है कि समय पर रजिस्ट्रेशन कर योजना का लाभ लें। इंजीनियरिंग-जे.ई.ई. मेन्स परीक्षा में 50 हजार तक की रैंक वाले विद्यार्थियों द्वारा किसी शासकीय अथवा अशासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रवेश लेने पर उसे सहायता मिलेगी। शासकीय कॉलेज की पूरी फीस (मेस शुल्क एवं कॉशन मनी छोड़कर) दी जायेगी। प्रायवेट कॉलेज की फीस में डेढ़ लाख रुपये या वास्तविक शुल्क (शुल्क समिति द्वारा निगमित, मेस शुल्क एवं कॉशन मनी छोड़कर) जो कम हो, शासन द्वारा दी जायेगी। मेडिकल-राष्ट्रीय पात्रता और प्रवेश परीक्षा (नीट) के माध्यम से केन्द्र या राज्य के किसी भी शासकीय मेडिकल कॉलेज अथवा मध्यप्रदेश के किसी प्रायवेट मेडिकल कॉलेज में एम.बी.बी.एस. के लिये प्रवेश लेने पर योजना का लाभ मिलेगा। शासकीय मेडिकल कॉलेज की पूरी फीस एवं प्रायवेट कॉलेज में देय शुल्क राज्य शासन द्वारा दिया जायेगा। तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री जोशी ने बताया कि शासकीय मेडिकल कॉलेज में शिक्षित डाक्टर 2 वर्ष तक ग्रामीण क्षेत्र में कार्य करने को बाध्य होंगे। इन्हें 10 लाख रुपये का बांड भरना होगा। प्रायवेट कॉलेज के छात्रों के लिये यह अवधि 5 वर्ष तथा बांड की राशि 25 लाख रुपये होगी। लॉ- क्लेट के माध्यम से देश के किसी भी राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय में बारहवीं कक्षा के बाद के कोर्स की पूरी फीस शासन देगा। राज्य शासन के सभी कॉलेज के बी.एस-सी., बी.ए., बी. काम., नर्सिंग, पॉलीटेक्निक तथा स्नातक स्तर के सभी पाठ्यक्रमों की पूरी फीस सरकार भरेगी। शासकीय संस्थाओं के विद्यार्थियों की पूरी फीस संस्था के खाते में दी जायेगी। प्रायवेट संस्थाओं में विद्यार्थियों को देय शुल्क विद्यार्थी के खाते में दिया जायेगा। योजना का क्रियान्वयन संचालनालय तकनीकी शिक्षा द्वारा किया जायेगा। योजना शैक्षणिक सत्र 2017-18 से आरंभ की जायेगी। पोर्टल www.scholarshipportal.mp.nic.in के माध्यम से योजना का क्रियान्वयन किया जायेगा


aaराप्रसे के दो अधिकारी का स्थानान्तरण


28 Jun 2017

राज्य शासन ने राज्य प्रशासनिक सेवा के श्री दिलीप कापसे एवं कु. शीला दाहिमा का स्थानान्तरण कर नयी पदस्थापना की है। श्री दिलीप कापसे अपर कलेक्टर, झाबुआ को स्थानान्तरित कर मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला पंचायत झाबुआ तथा कु. शीला दाहिमा को मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला पंचायत बैतूल पदस्थ किया गया है।


aaजी.एस.टी. राज्य और देश के आर्थिक विकास के लिए लाभदायक सिद्ध होगा


27 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने नई दिल्ली में आज जी.एस.टी. पर आयोजित एक चर्चा में कहा कि जी.एस.टी. राज्य और देश के आर्थिक विकास के लिए लाभदायक सिद्ध होगा। जी.एस.टी. से देश का फायदा होगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की नई सोच और पहल एवं वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली के अथक प्रयास के कारण ही जीएसटी लागू होने से एक देश और एक कर व्यवस्था पूरे देश में आगामी एक जुलाई से लागू होगी। श्री चौहान ने कहा कि 30 जून को रात्रि 12 बजे पार्लियामेंट हाउस के प्रांगण में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी नई कर व्यवस्था का शुभारम्भ करेंगे। यह एक ऐतिहासिक पल होगा जिससे जनता को 16 करों और उपकरों से आजादी मिलेगी, 1150 चुंगियों से निजात मिलेगी, टैक्स पर टैक्स लगने से आजादी मिलेगी, टैक्स ऑफिस के चक्कर लगाने से मुक्ति मिलेगी और पूरे देश में अलग-अलग कीमतों से छुटकारा मिलेगा तथा कर की जटिलताओं से आजादी मिलेगी। श्री चौहान ने बताया कि जी.एस.टी. लागू होने से कारोबार करना और आसान हो जायेगा। नौकरी के अवसर बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि किसान सबसे बड़ा उपभोक्ता है वह भी इस नई कर प्रणाली से लाभ उठायेगा। आम आदमी के उपयोग की वस्तुओं के दाम घटेंगे और महँगाई कम होगी। वहीं दूसरी तरफ विलासिता वाली चीजों के दाम बढ़ेंगे। आम आदमी को राहत मिलेगी। नाके और चेक-पोस्ट खत्म होंगे। छोटे व्यापारियों को लाभ होगा। इंस्पेक्टर राज की समाप्ति होगी। उन्होंने बताया कि नयी कर प्रणाली से जुड़ी राज्यों की सभी आशंकाओं का निराकरण किया जा चुका है। इसके बाद भी जी.एस.टी. काउंसिल में राज्यों के वित्त मंत्रियों के माध्यम से शेष आशंकाओं को दूर किया जा सकेगा। श्री चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश में वाणिज्यिक कर विभाग द्वारा प्रत्येक स्तर पर जी.एस.टी. हेल्प डेस्क बनाई गई है। इस तरह की हेल्प डेस्क की संख्या 101 है। विभाग के अधिकारियों को जी.एस.टी. का प्रशिक्षण दिया जा चुका है तथा पूरे प्रदेश में लगभग 300 से अधिक कार्यशालाएँ आयोजित की गई हैं जिसमें नई कर प्रणाली जी.एस.टी. की बारीकियों को समझाया गया है। जी.एस.टी. के आने से राज्यों की आय में वृद्धि होगी और राज्य का विकास होगा।


aaकाम कोई छोटा नहीं और काम से बड़ा कोई धर्म नहीं


27 Jun 2017

काम कोई छोटा नहीं और काम से बड़ा कोई धर्म नहीं। तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने यह बात राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में 'फेकल्टी डेव्हलपमेंट प्रोग्राम ऑन इंटरप्रेन्योरशिप'' में कही। श्री जोशी ने कुलपति से कहा कि संस्था के हित में अधिक से अधिक नवाचार करें, शासन पूरा सहयोग करेगा। श्री जोशी ने कहा कि जो काम जिसको मिला है, उसे पूरी ईमानदारी से करें, यही उद्यमिता है। उन्होंने कहा कि पुराने समय में सबका उद्यम निर्धारित था। तब हमारा देश सोने की चिड़िया कहलाता था। श्री जोशी ने कहा कि 'मेक इन इण्डिया'' और 'स्टार्ट-अप'' जैसे कार्यक्रम के माध्यम से युवाओं को कई सहूलियतें दी गयी हैं। कुलपति प्रो. सुनील कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय देश ही नहीं, विश्व में अपनी पहचान स्थापित करेगा। उन्होंने कहा कि उद्यम व्यक्ति में अन्तर्निहित होता है। कुलपति ने कहा कि सफलता का श्रेय टीम को दूँगा और असफलता की जिम्मेदारी मैं खुद लूँगा। पूर्व कुलपति श्री एस.पी. मिश्रा ने कहा कि जिस समाज में उद्यमिता की संस्कृति होती है, वह समाज हमेशा विकास करता है। उद्यमिता की पहचान है, सुस्त नहीं चुस्त रहें। टेक्नालॉजी बिजनेस इन्क्यूबेटर, गाजियाबाद के महाप्रबंधक श्री सतेन्द्र कुमार ने कहा कि कार्यक्रम 12 दिन चलेगा। इसमें विद्यार्थियों का पहले स्किल टेस्ट होगा। टेस्ट के परिणाम के आधार पर प्रशिक्षण दिया जायेगा। प्रो. आर.एस. राजपूत ने भी सम्बोधित किया।


aaप्लेटिनम प्लाजा से जवाहर चौक तक बनेगी बॉलेवार्ड स्ट्रीट


27 Jun 2017

स्मार्ट सिटी मिशन में प्लेटिनम प्लाजा से जवाहर चौक तक बॉलेवार्ड स्ट्रीट बनेगी। राजस्व, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता और महापौर श्री आलोक शर्मा ने मंगलवार को प्लेटिनम प्लाजा के पास भूमि-पूजन किया। श्री गुप्ता ने कहा कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट कम से कम तकलीफ अच्छे से अच्छा काम की नीति पर चल रहा है। उन्होंने कहा कि बढ़ते हुए भोपाल की जरूरतों को पूरा करने के लिए इस तरह के प्रोजेक्ट जरूरी हैं। श्री गुप्ता ने उनके क्षेत्र में स्मार्ट सिटी का स्थल चयन करने पर मुख्यमंत्री और महापौर को धन्यवाद भी दिया। सांसद श्री आलोक संजर ने कहा कि स्मार्ट सिटी के कार्य में तेजी लाकर हम प्रधानमंत्री के सपनों को साकार करेंगे। महापौर श्री शर्मा ने कहा कि बॉलेवार्ड स्ट्रीट 40 करोड़ की लागत से बनायी जायेगी। यह 45 मीटर चौड़ी होगी। इसमें मल्टी व्हीकल लेन, सेंट्रल ग्रीन वर्ज, साइकिल ट्रेक, फुटपाथ और स्मार्ट युटिलिटी टनल बनायी जायेगी। द्वितीय चरण में स्ट्रीट को फ्लाय ओवर के माध्यम से बाणगंगा तक जोड़ा जायेगा। कार्यक्रम में नगर निगम के अध्यक्ष श्री सुरजीत सिंह, पार्षद और नागरिक उपस्थित थे।


aaमहाविद्यालयों में प्रवेश के लिए 28 जून तक जमा कर सकते हैं फीस


24 Jun 2017

उच्च शिक्षा विभाग द्वारा प्रदेश के विभिन्न महाविद्यालयों में प्रथम चरण की ऑनलाइन काउंसलिंग प्रक्रिया की फीस जमा करने की अंतिम तिथि स्नातक कक्षा के लिए 23 जून से बढ़ाकर 28 जून कर दी गई है। प्रथम चरण की काउंसिंलग में प्रवेश के लिए जिन विद्यार्थियों को महाविद्यालयों का आवंटन किया गया है, वे 28 जून तक फीस जमा कर सकते हैं। प्रवेश के लिये 20 जून को जारी आवंटन सूची एवं अलाटमेंट लेटर 28 जून तक वैध रहेंगे। फीस जमा करने के लिये विभागीय पोर्टल पर ऑनलाइन भुगतान की सुविधा उपलब्ध है।


aaडिजी गाँव परियोजना के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए बनी समिति


24 Jun 2017

राज्य शासन द्वारा डिजी गाँव परियोजना के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए राज्य स्तरीय समिति का गठन किया गया है। प्रमुख सचिव, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी समिति के अध्यक्ष होंगे। समिति में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के प्रतिनिधि, तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग के प्रतिनिधि, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रतिनिधि और स्कूल शिक्षा विभाग के प्रतिनिधि सदस्य होंगे। मुख्य कार्यपालन अधिकारी मैन-आईटी सदस्य सचिव होंगे।


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने जन्म-दिन पर बालिकाओं को बाँटे बैग


24 Jun 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने जन्म-दिन पर शासकीय जयप्रकाश चिकित्सालय में मरीजों के परिजन को भोजन वितरित किया। उन्होंने किशोर बालिका गृह नेहरू नगर में बस्ते वितरित किये। श्री गुप्ता ने बालिकाओं के साथ केक भी काटा। श्री गुप्ता ने दीपशिखा स्कूल टी.टी.नगर में छात्राओं को ड्रेस वितरित किया और उनके साथ खाना खाया। उन्होंने पाताल भैरवी कोटरा में आयोजित सामूहिक विवाह सम्मेलन में नव-दम्पित्तियों को आशीर्वाद दिया। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaतहसीलदार के 249, नायब तहसीलदार के 947 और पटवारी के 7398 नये पद


23 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने राजस्व विभाग की समीक्षा बैठक में तहसीलदार, नायब तहसीलदार के कॉडर रिव्यू का प्रस्ताव स्वीकृत कर जल्द इनकी भर्ती की कार्यवाही करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने पटवारी के नये एवं रिक्त पद भी शीध्र भरने के निर्देश दिये। बैठक में राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता उपस्थित थे। कॉडर रिव्यू में वर्तमान जरूरतों के मद्देनजर तहसीलदार के 249 और नायब तहसीलदार के 947 नये पद प्रस्तावित किए गए हैं। पटवारी के 7398 नये पद स्वीकृत किये जा चुके हैं। बैठक में बताया गया कि नायब तहसीलदार के 294 पद की भर्ती मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा की जा रही है। तहसीलदार के अभी 519, नायब तहसीलदार के 620 और पटवारी के 11 हजार 622 पद स्वीकृत हैं।


aaस्मार्ट सिटी में सागर शामिल होने से बुंदलेखण्ड का मान बढ़ा: श्री भूपेन्द्र सिंह


23 Jun 2017

गृह एवं परिवहन मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने सागर शहर को स्मार्ट सिटी में शामिल किये जाने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए केंद्र सरकार का आभार माना है। श्री सिंह ने कहा है कि देश में प्रस्तावित स्मार्ट सिटी में सागर को सम्मिलित किये जाने से न सिर्फ सागर बल्कि बुंदेलखण्ड का मान बढ़ा है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने विकास को लक्ष्य बनाकर कार्य किया है। यही वजह है कि केंद्र की स्मार्ट सिटी की सूची में आज मध्यप्रदेश के कई शहरों के नाम शामिल हैं। स्वच्छ शहरों की सूची में भी इंदौर एवं भोपाल अव्वल पायदान पर हैं। श्री सिंह ने कहा कि निरंतर विकास कर रहे सागर के साथ ही सतना शहर का चयन होना एक बड़ी उपलब्धि है। केंद्र सरकार की यह सौगात मिलने पर सागर की जनता बधाई की पात्र है। श्री सिंह ने इस फैसले के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी एवं मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जी को साधुवाद दिया है।


aaदेवास में सिंगापुर के कौशल विकास संस्थान और इंडस्ट्री प्रतिनिधियों के बीच चर्चा


23 Jun 2017

देवास में कौशल विकास पर इण्डस्ट्री एवं इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नीकल एजूकेशन सर्विसेस सिंगापुर के प्रतिनिधि मण्डल के बीच चर्चा का आयोजन किया गया। एशियन डेव्हलपमेन्ट बैंक तथा सिंगापुर के कौशल विकास संस्थान के प्रतिनिधि चर्चा में उपस्थित थे। चर्चा के बाद प्रतिनिधि मंडल ने देवास में आद्यौगिक ईकाइयों को देखा तथा मगध ऑटोसिस सेंटर फॉर रिसर्च एण्ड टेक्नोलॉजी (एम.ए.सी.आर.टी.) का अवलोकन भी किया। आई.टी.ई.ई.सिंगापुर एवं ए.डी.वी. के प्रतिनिधियों एवं कौशल विकास के अधिकारियों की दो अलग-अलग टीमों द्वारा कमिन्स टर्बो टेक्नोलॉजी लिमिटेड देवास एवं आयशर वाल्वो लिमिटेड देवास का भ्रमण किया गया। तकनीकी शिक्षा एवं कौशाल विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री दीपक जोशी ने प्रतिनिधियों को देवास में उच्च गुणवत्ता वाले आई.टी.आई. की स्थापना की संभावना से अवगत कराया। उन्होंने बताया कि भोपाल में 600 एकड़ में एक मेगा आई.टी.आई. पार्क की स्थापना की जा रही है। एशियन डेव्हलपमेंट बैंक इस मेगा पार्क को वित्तीय सहायता प्रदान करेगा।


aaश्री रामनाथ कोविंद से जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने सौजन्य की भेंट


22 Jun 2017

जनसंपर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र आज नई दिल्ली में देश के अगले राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए द्वारा मनोनीत उम्मीदवार श्री रामनाथ कोविंद से भेंट कर उन्हें हार्दिक बधाई दी। मंत्री डॉ. मिश्र ने श्री कोविंद को दतिया की माँ पीताम्बरा पीठ में आने का न्यौता भी दिया। उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पूर्व ही श्री कोविंद दतिया पधारे थे और उन्होंने माँ पीताम्बरा पीठ में दर्शन किए थे


aaवस्तु एवं सेवा कर पर व्यापारियों के लिये 23 और 26 जून को कार्यशाला


22 Jun 2017

वाणिज्यिक कर विभाग भोपाल संभाग एक द्वारा व्यापारियों को वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) से संबंधित जानकारी देने और समस्याओं के निराकरण के लिये 23 जून को भोपाल के न्यू मार्केट स्थित समन्वय भवन अपेक्स बैंक परिसर में दोपहर एक बजे से शाम 6 बजे तक और 27 जून को बी.एच.ई.एल. कल्चरल हॉल में जो एस.बी.आई. एचटीई शाखा के सामने है, वहाँ प्रात: 11 बजे से कार्यशाला होगी। संभागीय उपायुक्त वाणिज्यिक कर भोपाल संभाग-1 श्री सुनील मिश्रा ने बताया कि कार्यशाला में व्यापारियों के सवालों के भी जवाब दिये जायेंगे।


aaआवंटियों के साथ करार में दिये आश्वासनों को पूरा करना जरूरी


22 Jun 2017

म.प्र. हाउसिंग बोर्ड अथवा डेव्हलपर्स आवंटियों के साथ जो भी अनुबंध करेंगे, उसका पालन उन्हें करना ही होगा। निर्माण कार्य की पाँच वर्ष की गारंटी भी लेनी होगी। समय पर मकान भी बना कर देना होगा। रेरा एक्ट के प्रावधानों का पालन नहीं करने पर आवंटी उनसे ब्याज सहित भुगतान तथा मुआवजा ले सकेंगे। रेरा के अध्यक्ष श्री अन्टोनी डिसा ने यह बातें मध्यप्रदेश हाउसिंग बोर्ड के अधिकारियों को कार्यशाला में बताईं। श्री डिसा ने कहा कि मकानों की बुकिंग के समय आवंटी से मनमानी राशि नहीं ली जा सकेगी। उन्होंने बताया कि रियल एस्टेट में होने वाले संव्यवहार को पारदर्शी बनाया जायेगा। विज्ञापन और ब्रोशर में किये जाने वाले दावों को पूरा करना होगा। श्री डिसा ने बताया कि अथॉरिटी में उपभोक्ताओं की शिकायतों का तेजी से निराकरण किया जायेगा। बिल्डर तथा रियल एस्टेट एजेंट अपने पंजीयन तथा उपभोक्ता अपनी शिकायतें वेबसाइट www.rera.mp.gov.in पर ऑनलाइन दर्ज करवा सकते हैं। श्री डिसा ने बताया कि पंजीयन के बाद ही प्रोजेक्ट की मार्केटिंग एवं एडवरटाइजिंग की जा सकेगी। रेरा की परिधि में वे प्रोजेक्ट आयेंगे जो भविष्य में निर्मित होने है या 30 अप्रैल 2017 की स्थिति में अपूर्ण थे अथवा जिनकों पूर्णता प्रमाण-पत्र नगर निगम द्वारा जारी नहीं किया है। सभी अपूर्ण प्रोजेक्टस को 31 जुलाई तक अनिवार्य रूप से पंजीयन करवाना होगा। उन्होंने बताया कि रेरा का गठन पूरे देश में सिर्फ मध्यप्रदेश में किया गया है। कार्यशाला में हाउसिंग बोर्ड के अध्यक्ष श्री कृष्ण मुरारी मोघे और प्रबंध संचालक श्री रवीन्द्र सिंह एवं मैदानी अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।


aaरोज करें योग - मुख्यमंत्री श्री चौहान


21 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने नागरिकों का आव्हान किया है कि योग रोज करें। योग तन को स्वस्थ, मन को प्रसन्न और बुद्धि को प्रखर करता है। श्री चौहान अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के राज्य स्तरीय कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। राज्य स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन आज स्थानीय लाल परेड ग्राउन्ड में आयोजित किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान के साथ महापौर श्री आलोक शर्मा, विधायक श्री रामेश्वर शर्मा, मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला, बड़ी संख्या में विद्यार्थी एवं नागरिकगण ने योगाभ्यास किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वर्तमान जीवन की आपा-धापी में जीवन तनावमय हो गया है। जीवन को तनाव मुक्त करने का प्रभावी माध्यम योग है। सफल, सार्थक मानव जीवन जीने के लिये योग को जीवन का हिस्सा बनायें। उन्होंने स्वामी विवेकानंद के विचारों का उल्लेख करते हुये कहा कि व्यक्ति अनंत शक्तियों का भंडार है। वह ईश्वर का अंश है। मनुष्य अपनी क्षमताओं का बहुत कम ही उपयोग कर पाता है। व्यक्ति की इस अपार आंतरिक शक्ति को प्रखर बनाने का कार्य योग करता है। श्री चौहान ने कहा कि भारतीय ऋषि मुनियों ने हजारों वर्ष पूर्व योग विधा का आविष्कार किया था। विश्व के जन-जन के मन में योग को प्रस्फुटित करने के लिये उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को कोटिश: धन्यवाद दिया और नागरिकों को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुभकामनाएँ प्रेषित की। उन्होंने नागरिकों से अपील करते हुये कहा कि जीवन आनंद, उत्सव और प्रसन्नता के साथ जियें। देश और समाज के विकास में सर्वश्रेष्ठ योगदान के लिये योग को जीवन का हिस्सा बनाएँ। नशा नहीं करने के लिए कृत-संकल्पित हों। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर मेधावी छात्र योजना की जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में ताड़ासन, वृक्षासन, पादहस्तासन, अर्धचक्रासन, त्रिकोणासन, भद्रासन, वज्रासन, अर्ध उष्ट्रासन, शशकासन, उत्तानमंडूकासन, वक्रासन, मुकरासन, भुजंगासन, शलभासन, सेतुबंधासन, उत्तानपादासन, अर्धहलासन, पवन मुक्तासन, शवासन, कपालभाति, प्रणायाम, नाड़ी शोधन, अनुलोम विलोम और शीतली और भ्रामरी प्राणायाम योग आसन किये। कार्यक्रम के प्रारंभ में मध्यप्रदेश गान का गायन हुआ और अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के संदेश का प्रसारण हुआ।


aaअच्छी पढ़ाई के लिये योग बहुत जरूरी- मुख्यमंत्री श्री चौहान


21 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने बच्चों का आव्हान किया है कि खूब मन लगाकर पढ़ाई करें। उन्होंने कहा कि अच्छी पढ़ाई के लिये योग बहुत जरूरी है। श्री चौहान आज मुख्यमंत्री निवास में स्कूली बच्चों को संबोधित कर रहे थे। बैरागढ़ क्षेत्र के विभिन्न स्कूलों के छात्र-छात्राओं ने मुख्यमंत्री निवास में योगाभ्यास किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि व्यक्ति अनंत शक्तियों का भंडार है। अधिकांश लोग उसके छोटे से हिस्से का ही उपयोग कर पाते हैं। उन्होंने कहा कि योग, प्राणायाम और ध्यान आदि यौगिक क्रियाएं व्यक्ति की आंतरिक शक्ति को पहचानने और प्रगटीकरण का कार्य करती हैं। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि खूब मन लगाकर पढ़ाई करें, उनकी उच्च शिक्षा में कोई बाधा नहीं आयेगी। राज्य सरकार ने इन बाधाओं को दूर करने के लिए प्रभावी योजना लागू की है। इस योजना में बिना जाति, धर्म आदि के भेदभाव के गरीब, निम्न, मध्यम वर्गीय परिवारों के बच्चों की उच्च शिक्षा में मदद की जायेगी। उन्होंने कहा कि मेधावी छात्र योजना में ऐसे परिवार जिनकी आय 6 लाख रूपये वार्षिक से कम है, उनका प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थाओं में प्रवेश होने पर फीस का भुगतान राज्य सरकार करेगी। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि जीवन को सफल और सार्थक बनाने के लिये नशा कभी नहीं करें, योग रोज करें और खूब पढ़ाई करें। बच्चों के योगाभ्यास कार्यक्रम में संभागीय संयुक्त संचालक शिक्षा श्री डी.एस.कुशवाह ने आभार प्रदर्शन किया। कार्यक्रम के प्रारंभ में राष्ट्रगान का गायन हुआ। बड़ी संख्या में स्कूली बच्चों और शिक्षकों ने योगाभ्यास किया


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान से श्रीलंका के श्रम राज्यमंत्री श्री समरवीरा ने की भेंट


21 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से मंत्रालय में श्रीलंका के श्रम राज्यमंत्री श्री रवीन्द्र समरवीरा ने आज सौजन्य भेंट की। उन्होंने श्रीलंका में सीता माता मंदिर निर्माण से संबंधित विषयों पर चर्चा की। इस अवसर पर प्रमुख सचिव संस्कृति श्री मनोज श्रीवास्तव एवं प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री एस.के. मिश्रा भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भारत और श्रीलंका एक परिवार के समान है। दोनों राष्ट्रों के प्राचीनकाल से सांस्कृतिक मैत्रीपूर्ण संबंध हैं। वे श्रीलंका की यात्रा कर चुके हैं। स्वयं को श्रीलंका के साथ जुड़ा हुआ अनुभव करते हैं। उन्होंने कहा कि पारस्परिक संबंधों की मजबूती के लिये सांची में बौद्ध विश्व विद्यालय और श्रीलंका में सीता माता मंदिर जैसी परियोजनाओं का आकल्पन किया गया। इससे दोनों राष्ट्रों में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने मंदिर निर्माण कार्य में श्रीलंका की भावनाओं को शामिल किये जाने का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्री समरवीरा का प्रदेश आगमन पर स्वागत करते हुये कहा कि उन्हें यहां अपना सा लगेगा। आदिवासी संग्रहालय, शौर्य स्मारक, वन विहार और बोट क्लब का भ्रमण करने का सुझाव दिया। मुख्यमंत्री ने श्रीलंका के राज्यमंत्री को स्मृति चिन्ह के रूप में पुस्तक टाइमलेस ट्रेजर और सांची स्तूप का प्रादर्श भेंट किया। श्रीलंका के श्रम राज्यमंत्री श्री समरवीरा ने बताया कि श्रीलंका में रामायण से संबंधित चार स्थल हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री को श्रीलंका आने का आमंत्रण देते हुए बताया कि सीता माता मंदिर उनके गांव में ही स्थित है। मंदिर के साथ उनके परिवार का गहरा जुड़ाव है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंदिर निर्माण की ड्राइंग, डिजाइनिंग और ले-आऊट देखा। मंदिर के प्रवेश द्वार, मठ और धर्मशाला निर्माण की रूपरेखा पर चर्चा भी की। श्री समरवीरा को बताया गया कि परियोजना में स्मारक के मूलस्वरूप में कोई परिवर्तन नहीं किया जायेगा। केवल आधुनिक सुविधाओं के सौंदर्यीकरण का कार्य होगा। सर्वेक्षण का कार्य श्रीलंका के विशेषज्ञों द्वारा किया गया है। आर्किटेक्ट भारतीय विशेषज्ञ हैं जो मंदिर निर्माण और जीर्णोद्वार के विशेषज्ञ है। उनको बताया गया कि आर्किटेक्ट शीघ्र ही उनसे संपर्क कर उनकी अपेक्षाओं की जानकारी प्राप्त करेंगे। रूपरेखा में आवश्यक परिवर्तन करेंगे। श्रीलंका के कांन्ट्रेक्टर द्वारा निर्माण कार्य किया जायेगा। निर्माण कार्य श्रीलंका के लोक निर्माण विभाग के शेड्यूल ऑफ रेट के अनुसार किया जायेगा।


aaविद्युत दरों पर उपभोक्ताओं को 8700 करोड़ की सब्सिडी देने का निर्णय


20 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज मंत्रि-परिषद की बैठक में म.प्र. विद्युत नियामक आयोग द्वारा वित्तीय वर्ष 2017-18 के लिये लागू की गई विद्युत दरों पर उपभोक्ताओं को 8700 करोड़ रूपये की सब्सिडी देने का निर्णय लिया गया। सब्सिडी राशि का भुगतान राज्य सरकार द्वारा संबंधित विद्युत कंपनियों को किया जायेगा। सब्सिडी देने के इस निर्णय से सर्वाधिक रूपये 8400 करोड़ का लाभ प्रदेश के कृषि उपभोक्ताओं को मिलेगा। मंत्रि-परिषद द्वारा लिये गये इस निर्णय के फलस्वरूप 30 यूनिट तक की मासिक बिजली खपत वाले एक सौ वाट तक के घरेलू उपभोक्ताओं को प्रति यूनिट रूपये 1.10 तथा 50 यूनिट तक मासिक खपत वाले घरेलू उपभोक्ताओं को 20 पैसे प्रति यूनिट की दर से सब्सिडी दी जायेगी। स्थाई संयोजन वाले फ्लेट रेट कृषि उपभोक्ताओं को प्रति हार्स पावर प्रतिवर्ष 1400 रूपये की दर से विद्युत बिल देना होगा। शेष राशि की प्रतिपूर्ति राज्य सरकार द्वारा सब्सिडी से की जायेगी। इसी तरह, एक हेक्टयर तक की भूमि वाले 5 हार्स पावर तक के अनुसूचित जाति एवं जनजाति के कृषि उपभोक्ताओं को नि:शुल्क विद्युत प्रदाय की जायेगी। अस्थाई संयोजन वाले कृषि उपभोक्ताओं को एक रूपये पिचहत्तर पैसे प्रति यूनिट की दर से सब्सिडी दी जायेगी। स्थाई तथा अस्थाई श्रेणी के कृषि उपभोक्ताओं के फिक्स मासिक चार्ज एवं एफसीए (ईंधन लागत समायोजन) का पूर्ण भार राज्य सरकार द्वारा वहन किया जायेगा और इसकी एवज में सब्सिडी जारी रहेगी। मंत्रि-परिषद ने नगर पालिका एवं नगर पंचायत की निम्न दाब सड़क बत्ती योजनाओं के लिये नियत प्रभार पर राज्य सरकार द्वारा 95 रूपये प्रति किलो वाट प्रतिमाह की दर से सब्सिडी देने का निर्णय लिया। उच्च दाव उदवहन एवं समूह सिंचाई उपभोक्ताओं को वार्षिक न्यूनतम प्रभार से छूट दी जायेगी। प्रति यूनिट रूपये 1.90 की सब्सिडी भी ऊर्जा प्रभार में दी जायेगी। गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वाले अनुसूचित जाति एवं जनजाति के एकल बत्ती उपभोक्ताओं से प्रतिमाह 25 यूनिट तक विद्युत प्रभार नहीं लिया जायेगा। पच्चीस हार्स पावर तक के पावरलूम उपभोक्ताओं को रूपये 1.25 प्रति यूनिट की सब्सिडी उर्जा प्रभार में दी जायेगी। मंत्रि-परिषद ने वर्ष 2016-17 के लिये सहकारी बैंकों के माध्यम से किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर दिये जा रहे अल्पावधि कृषि ऋण योजना में खरीफ सीजन की निर्धारित डयू डेट 28 फरवरी को बढ़ाकर 28 मार्च 2017 करने का निर्णय लिया। मंत्रि-परिषद द्वारा मध्यप्रदेश माध्यस्थम अधिकरण में लंबित प्रकरणों का त्वरित गति से निराकरण करने के लिये तकनीकी सदस्य नियुक्त करने का निर्णय लिया गया। इसी तरह, मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय की मुख्य पीठ, जबलपुर तथा इंदौर एवं ग्वालियर खंडपीठ में कार्यरत कंम्प्यूटर प्रशिक्षण प्राप्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों को, जिन्होंने 26 सितंबर 2014 के पूर्व कंम्प्यूटर प्रशिक्षण प्राप्त किया है, एक अग्रिम वेतन वृद्वि स्वीकृत करने का निर्णय लिया गया। मंत्रिपरिषद ने रजिस्ट्रार फर्म्स एवं संस्थाएँ कार्यालय के लिये उप-पंजीयक, निरीक्षक एवं डाटा एन्ट्री आपरेटर के कुल 19 नये पद स्वीकृत करने का निर्णय लिया।


aaराशन दुकानों पर दो रुपये प्रति किलो प्याज मिलेगा


20 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में कृषि केबिनेट की बैठक मंत्रालय में हुई। बैठक में निर्णय लिया गया कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत उचित मूल्य की दुकानों से बीपीएल के साथ ही अब एपीएल राशन कार्ड धारक को भी दो रुपये प्रति किलोग्राम की दर से प्याज मिलेगी। एक राशन कार्ड पर अधिकतम 50 किलोग्राम प्याज खरीदी जा सकेगी। प्याज का भंडारण समर्थन मूल्य खरीदी केन्द्र के निकट ही किया जायेगा। किसानों के हित के लिये की जा रही प्याज खरीदी में गड़बड़ी और दुरुपयोग पाये जाने पर दोषी व्यक्तियों के विरुद्ध अपराधिक प्रकरण दर्ज कर कठोरतम कार्रवाई की जायेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश की सरकार ने किसानों के हित में अनेक ऐतिहासिक निर्णय लिये हैं। उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिये कि प्याज एवं समर्थन मूल्य पर दलहनों की खरीदी पर किसानों को कोई असुविधा नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि किसानों को उनकी उपज का वाजिब दाम दिलाने के लिये प्याज 8 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से खरीदा जा रहा है। इसी तरह प्रदेश में समर्थन मूल्य पर मूंग खरीदी होने से किसानों को बाजार मूल्य से प्रति क्विंटल लगभग 1500 रुपये अधिक मिल रहा है। उन्होंने कहा कि प्याज का स्थानीय स्तर पर भंडारण किया जाये। सार्वजनिक वितरण प्रणाली अंतर्गत तीन माह के गेहूँ का उठाव एक साथ करवाया जाये। उन्होंने प्याज की अंधाधुंध बोवनी के विषय में भी किसानों को जागरूक किये जाने की जरूरत बतायी। मुख्यमंत्री ने बाजार की संभावनाओं के आधार पर किसानों को सलाह देने के लिये रणनीति बनाने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में प्याज खरीदी का कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है। अभी तक किसानों से 2 लाख 75 हजार मीट्रिक टन प्याज खरीदा जा चुका है। प्याज खरीदी 30 जून तक होगी। इसी तरह समर्थन मूल्य पर अरहर 49 केन्द्रों के माध्यम से 31 हजार 700 क्विंटल, मूंग 62 केन्द्रों पर 48 हजार 747 क्विंटल, उड़द 38 केन्द्रों पर 13 हजार 669 क्विंटल एवं 20 केन्द्रों के माध्यम से 915 क्विंटल मसूर की खरीदी की जा चुकी है। कृषि केबिनेट में वित्त एवं वाणिज्यिक कर मंत्री श्री जयंत कुमार मलैया, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव, वन, योजना आर्थिक-सांख्यिकी मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, जल-संसाधन मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, स्कूल शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह, किसान-कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन, राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, पशुपालन, मछुआ-कल्याण और ग्रामोद्योग मंत्री श्री अंतरसिंह आर्य, नर्मदा घाटी विकास और सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री लालसिंह आर्य, संस्कृति और पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा, सहकारिता, गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग और मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह सहित संबंधित विभागों के अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव और सचिव उपस्थित थे।


aaराज्य सरकार का फोकस कौशल उन्नयन पर


20 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से आज यहां मंत्रालय में आई.टी.ई.ई.एस. (इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्निकल एजुकेशन-एजुकेशनल सर्विस) सिंगापुर के प्रतिनिधि मंडल ने डीन श्री तेंग सेंग हुआ के नेतृत्व में मुलाकात की। इस अवसर पर तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार का फोकस कौशल उन्नयन पर है। राज्य सरकार प्रशिक्षित मानव संसाधन को ताकत बनाना चाहती है। इस दिशा में प्रयास जारी हैं। पिछले दिनों भोपाल में ग्लोबल स्किल डव्लेपमेंट समिट आयोजित किया गया था। प्रदेश की आई.टी.आई. संस्थाओं को मिशन मोड में विकसित किया जा रहा है। युवा अपना स्वंय का उद्योग स्थापित कर सकें, इसके लिये उन्हें प्रशिक्षित किया जा रहा है। आई.टी.ई.ई.एस. के डीन श्री तेंग सेंग हुआ ने कहा कि युवाओं के सशक्तिकरण की पहल सराहनीय है। उनकी संस्था उच्च गुणवत्ता के कौशल प्रशिक्षण के लिये कार्य करेगी। इस संबंध में उद्योगों के प्रतिनिधियों से संवाद किया जा रहा है। भोपाल में 3 जुलाई को ग्लोबल स्किल पार्क का भूमि-पूजन बताया गया कि भोपाल में करीब 645 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले ग्लोबल स्किल पार्क का भूमि पूजन आगामी तीन जुलाई को होगा। इसके विकास कार्य में आई.टी.ई.ई.एस. सिंगापुर तकनीकी सहयोग करेगा। इसके माध्यम से प्रति वर्ष 10 हजार युवाओं को प्रशिक्षित किया जायेगा। इस पार्क के लिये गोविंदपुरा भोपाल में 37 एकड़ भूमि आरक्षित की गई है। इस अवसर पर एशियन डेव्लपमेंट बैंक के सामाजिक क्षेत्र विशेषज्ञ श्री चोंग फूक येन, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल, प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव उपस्थित थी।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान की अध्यक्षता में निवेश प्रस्तावों पर हुई चर्चा


19 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से आज यहाँ मुख्यमंत्री निवास पर निवेशकों ने निवेश प्रस्तावों पर चर्चा की। इस दौरान कार्वी इलेक्ट्रानिक्स, बैंगलोर और रूसान फार्मा, मुम्बई के प्रतिनिधियों ने निवेश प्रस्ताव दिये। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी पी सिंह, प्रमुख सचिव वाणिज्य कर श्री मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव वाणिज्य एवं उद्योग श्री मोहम्मद सुलेमान और ट्रायफेक के अपर प्रबंध संचालक श्री वी.किरण गोपाल सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निवेशकों के प्रस्तावों का स्वागत किया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि निवेश प्रस्ताव को धरातल पर लाने में सक्रिय सहयोग करें। निवेशकों ने प्रदेश के निवेश संवर्धन वातावरण और नीतियों की सराहना की। रूसान फार्मा, मुम्बई द्वारा विशेष आर्थिक जोन पीथमपुर में फार्माक्यूटीकल संयंत्र की स्थापना का प्रस्ताव दिया गया। परियोजना में 600 करोड़ रूपये से अधिक के निवेश की जानकारी दी। इसी तरह कार्वी इलेक्ट्रानिक्स ने भी अपने प्रस्ताव की जानकारी दी।


aaजनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने किया स्मारिका का विमोचन


19 Jun 2017

जनसंपर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज किशन कृष्णा युवक मंडल, ग्वालियर की स्मारिका का विमोचन किया। इस अवसर पर स्मारिका के संपादक श्री सौरभ सक्सेना सहित पत्रकार श्री संजय जैन, श्री संतोष हिंगणकर उपस्थित थे।


aaराजस्व मंत्री ने काटजू और जे.पी. हास्पिटल में सुनी मरीजों की समस्याएँ


19 Jun 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने काटजू हास्पिटल में सुबह 9.30 से 10 बजे तक और इसके बाद 10.30 बजे तक जे.पी. हास्पिटल में मरीजों की समस्याएँ सुनीं। श्री गुप्ता ने स्थानीय जन-प्रतिनिधि से कहा है कि एक-एक दिन अस्पताल में जायें और यदि कोई मरीज परेशान हो तो उसकी मदद करें। श्री गुप्ता ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से काटजू हास्पिटल के पुनर्निर्माण के संबंध में चर्चा की। उन्होंने जे.पी. हास्पिटल में श्रीमती लक्ष्मी साहू और श्रीमती वर्षा गुप्ता को प्रसूति सहायता राशि जल्द भिजवाने के निर्देश दिये। राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने हास्पिटल में भर्ती श्री गोपाल, श्री हर्ष और अन्य मरीजों के स्वास्थ्य की जानकारी भी ली। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaनर्मदा बेसिन में वृहद वृक्षारोपण-2 जुलाई


16 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के संकल्प के अनुसार 2 जुलाई को नर्मदा बेसिन के 24 जिलों में 6 करोड़ पौधे रोपे जायेंगे। इनमें से 3 करोड़ पौधे वन विभाग और शेष 3 करोड़ पौधे ग्रामीण विकास, कृषि, उद्यानिकी, जन अभियान परिषद, नगरीय प्रशासन, स्कूल शिक्षा विभाग आदि द्वारा रोपित किये जायेंगे। संबंधित जिलों में रोपण के लिये गढ्ढा खुदाई का कार्य प्रगति पर है। नर्मदा बेसिन के 24 जिले- अनूपपुर, डिण्डौरी, मंडला, जबलपुर, कटनी, इंदौर, धार, अलीराजपुर, देवास, खंडवा, बड़वानी, खरगोन, बुरहानपुर, सिवनी, नरसिंहपुर, दमोह, सागर, हरदा, होशंगाबाद, रायसेन, बैतूल, छिन्दवाड़ा, सीहोर और बालाघाट जिले में 2 जुलाई को फलदार एवं छायादार वृक्षों के पौधे लगाये जायेंगे। सघन वृक्षारोपण से नर्मदा को सतत जल आपूर्ति होने के साथ ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों का सामना करने में मदद मिलेगी।
विश्व रिकार्ड तैयारी प्रशिक्षण प्रशासन अकादमी में
गिनीज विश्व रिकार्ड बनाने संबंधी तैयारियों के लिये 20 जून को आर.सी.व्ही.पी. नरोन्हा प्रशासन अकादमी में प्रशिक्षण दिया जायेगा। प्रशिक्षण में प्रत्येक जिले से 2-2 रिसोर्स पर्सन्स को प्रशिक्षित किया जायेगा। प्रशिक्षित रिसोर्स पर्सन्स अपने-अपने जिले में गिनीज विश्व रिकार्ड बनाने की प्रक्रिया में नियुक्त होने वाले विटनेस एवं स्टूवर्ड को प्रशिक्षित करेंगें। गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड बनाने के लिए विटनेस एवं स्टूवर्ड द्वारा विश्व रिकार्ड मापदण्डों के अनुसार प्रस्तुत किया गया अभिलेख अति-आवश्यक है।
रोपितपौधों की वीडियो एवं फोटोग्राफी
गिनीज विश्व रिकार्ड के मद्देनजर प्रत्येक रोपण स्थल में पौधों के सत्यापन के लिये 2-2 शासकीय अधिकारी-कर्मचारी की तैनाती के साथ रोपित पौधों की फोटोग्राफी एवं वीडियोग्राफी की भी व्यवस्था की जा रही है। प्रत्येक रोपण स्थल की जीपीएस (लेटीट्यूड एवं लॉगीट्यूड) भी ली जा रही है। इससे रोपण स्थलों को पहचाना जा सकेगा।
अब तक करीब डेढ़ लाख ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन
पौध-रोपण में अधिक से अधिक जन-भागीदारी के लिये शासन द्वारा ऑनलाइन पंजीयन व्यवस्था की गई है। www.namamidevinarmade.gov.inवेबसाइट पर अब तक लगभग डेढ़ लाख लोग 2 जुलाई 2017 को पौध-रोपण के लिये पंजीयन करा चुके हैं। वानिकी प्रजाति के आवश्यक पौधों की व्यवस्था वन विभाग एवं निजी रोपणियों द्वारा की गई हैं। फलदार प्रजाति के पौधों की व्यवस्था उद्यानिकी विभाग, शासकीय निजी रोपणियों और अन्य राज्यों से की जा रही है। विभिन्न विभाग अपने-अपने रोपण लक्ष्यों के अनुसार गढ्ढा खुदाई कर रहे हैं। कई जिलों में गढ्ढा खुदाई का काम पूरा होने को है।


aaउद्योग मंत्री श्री शुक्ल द्वारा शहडोल में 14 करोड़ रुपये के हितलाभ वितरित


16 Jun 2017

उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने शहडोल में हितग्राही सम्मेलन में 567 हितग्राहियों को 14 करोड़ रुपये के हितलाभ वितरित किये। श्री शुक्ल ने हितग्राहियों को बताया कि मकान बनाने के लिये नगरपालिका के माध्यम से बैंकों में प्रकरण मंजूर करवाये जायेंगे ताकि हितग्राही अपनी इच्छानुसार भवन का निर्माण करा सकें। उद्योग मंत्री ने शहडोल प्रवास के दौरान नगर के कोटमा तिराहे पर स्वतंत्रता सेनानी संग्राम सरदार वल्लभ भाई पटेल और रेलवे फाटक चौक पर शहीद भगत सिंह की प्रतिमा का अनावरण किया। तत्पश्चात श्री राजेन्द्र शुक्ल ने शहडोल में स्वच्छता अभियान के अन्तर्गत वाहनों को हरी झण्ड़ी दिखाकर रवाना किया।


aaनगरीय विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह का कर्नाटक दौरा


16 Jun 2017

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह 18 जून को कर्नाटक जाएंगी। श्रीमती सिंह रायचुरू जिले के शक्तिनगर में स्वच्छ भारत अभियान में शामिल होंगी और लिंगासुगुरु में महिला समावेश कार्यक्रम को संबोधित करेगीं। तत्पश्चात नगरीय विकास एवं आवास मंत्री 19 जून को भोपाल वापस आएँगी।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंदसौर में पशुपतिनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना की


15 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज सुबह मन्दसौर में पशुपतिनाथ मंदिर में विधि-विधान से पूजा-अर्चना की और प्रदेश की खुशहाली एवं समृद्धि की कामना की। मुख्यमंत्री ने पूजा-अर्चना करने के बाद मंदिर परिसर में निर्माणाधीन कार्यों का निरीक्षण भी किया। इस अवसर पर सांसद श्री सुधीर गुप्ता, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती प्रियंका डॉ. मुकेशगिरी गोस्वामी, विधायक श्री यशपाल सिंह सिसौदिया, श्री देवीलाल धाकड़, जिला केन्द्रीय सहकारी बैंक के अध्यक्ष श्री मदनलाल राठौर, नगर पालिका अध्यक्ष श्री प्रहलाद बधवार, अन्य स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान अपने मन्दसौर प्रवास के दौरान मनासा विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्री कैलाश चावला के निवास पर गये और उनके परिवारजनों से भेंट की।


aaश्री कृष्ण सरल स्मृति समारोह 19-20 जून को गुना में


15 Jun 2017

साहित्य अकादमी और मध्यप्रदेश संस्कृति परिषद द्वारा 19-20 जून को गुना में श्री कृष्ण 'सरल' स्मृति समारोह आयोजित किया जाएगा। समारोह में पहले दिन दोपहर में कविता एवं निबंध वाचन होगा। इसमें छात्र-छात्राएँ प्रतिभागी होंगे। दूसरे दिन दो सत्र होंगे जिसमें सुबह 12 बजे से भोपाल के डॉ. कृष्ण गोयल मिश्र, डॉ. सुधीर शर्मा मुख्य वक्ता होंगे। शासकीय स्नाकोत्तर महाविद्यालय, गुना के पूर्व प्राचार्य डॉ. सुरेशचन्द्र शर्मा मुख्य अतिथि होंगे। बरेली (उ.प्र.) के आचार्य देवेन्द्र कुमार 'देव' समारोह की अध्यक्षता करेंगे। समारोह के तृतीय सत्र में अपरान्ह में रचना पाठ होगा। इसमें गुना जिले के साहित्यकार डॉ. जी.पी. पचौरिया, श्रीमती कीर्ति गौतम, सुश्री रंजना शर्मा, श्री हरीश सोनी, श्री रामप्रसाद सिंह, श्री प्रमोद सोनी, एवं सुश्री रेखा शर्मा रचना पाठ करेंगे। सभी कार्यक्रम स्थानीय राज विलास होटल में होंगे।


aaमंत्री श्रीमती चिटनिस 16 जून को भोपाल आएंगी


15 Jun 2017

महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस शुक्रवार 16 जून को बैंगलोर से भोपाल वापस आएंगी। श्रीमती चिटनिस इस दिन सुबह बैंगलोर से इंडिगो विमान सेवा से इंदौर आएंगी और इंदौर से कार द्वारा दोपहर एक बजे तक भोपाल पहुँचेंगी।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान मन्दसौर पहुँचे


14 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आज सुबह भोपाल से मन्दसौर पहुँचे। मुख्यमंत्री मन्दसौर में जन-प्रतिनिधियों और वरिष्ठ अधिकारियों से मिलने के बाद ग्राम बड़वन के लिये रवाना हुए। मुख्यमंत्री श्री चौहान से नवलखा हवाई पट्टी पर सांसद श्री सुधीर गुप्ता, विधायक सर्वश्री जगदीश देवड़ा, यशपाल सिंह सिसोदिया, देवीलाल धाकड़ और बंशीलाल गुर्जर, जिला केन्द्रीय सहकारी बैंक के अध्यक्ष श्री मदनलाल राठौर और जन-प्रतिनिधियों ने मुलाकात की।
ग्राम बड़वन में पीड़ित परिजनों से मिले मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मंदसौर जिले के ग्राम बड़वन पहुँचे और मृतक कृषक श्री घनश्याम धाकड़ के पिता श्री दुर्गालाल धाकड़ और मृतक की पत्नी श्रीमती रेखा बाई से मिले। मुख्यमत्री ने पीड़ित परिवार को सांत्वना देते हुए बताया कि उनके खाते में एक करोड़ रुपये की राशि पहुँचा दी गई है।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्राम लोध में मृतक श्री सत्यनारायण के पिता को ढाँढस बँधाया


14 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज बुधवार को मंदसौर जिले के ग्राम लोध पहुँचकर मृतक किसान स्वर्गीय श्री सत्यनाराण के पिता मांगीलाल से भेंट कर उन्हें सांत्वना दी और संवेदनाएँ व्यक्त की। मुख्यमंत्री ने शोक संतप्त परिवार के मुखिया से कहा कि किसी प्रकार की चिंता न करें, मध्यप्रदेश सरकार पूरी तरह उनके साथ है। मुख्यमंत्री को मांगीलाल ने बताया कि उसकी जमीन गिरवी रखी हुई है तो उन्होंने कहा कि चिंता न करे गिरवी रखी जमीन छुड़वा देंगे। उन्होंने मांगीलाल को बताया कि सरकार ने मुआवजे के रूप में एक करोड़ रूपये स्वीकृत किये है, राशि उनके बैंक खाते में जमा हो जाएगी। परिवार में जो भी नौकरी लायक होगा, उसे सरकारी नौकरी दी जायेगी। उन्होंने मांगीलाल से कहा कि कोई भी परेशानी आये, तो उनसे मिल सकते हैं।


aaजनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र से मिले महाधिवक्ता श्री कौरव


14 Jun 2017

जनसम्पर्क, जलसंसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र से आज प्रातः महाधिवक्ता श्री पुरुषेन्द्र कौरव ने सौजन्य भेंट की। जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने श्री कौरव को नए दायित्व के लिए बधाई और शुभकामनाएं दीं।


aaमुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना


13 Jun 2017

अब प्रदेश के प्रतिभावान विद्यार्थियों की 12वीं के बाद भी पढ़ाई की फीस सरकार भरेगी। 'मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना' का लाभ माध्यमिक मण्डल द्वारा करवायी जाने वाली 12वीं परीक्षा में 75 प्रतिशत या उससे अधिक अथवा सी.बी.एस.ई./ आई.सी.एस.ई. की 12वीं की परीक्षा में 85 प्रतिशत या उससे अधिक अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को मिलेगा। विद्यार्थी के पालक की आय 6 लाख रुपये से कम होना चाहिए। विद्यार्थी का आधार नम्बर भी जरूरी है। इंजीनियरिंग-जे.ई.ई. मेन्स परीक्षा में 50 हजार तक की रैंक वाले विद्यार्थियों द्वारा किसी शासकीय अथवा अशासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रवेश लेने पर उसे सहायता मिलेगी। शासकीय कॉलेज की पूरी फीस (मेस शुल्क एवं कॉशन मनी छोड़कर) दी जायेगी। प्रायवेट कॉलेज की फीस में डेढ़ लाख रुपये या वास्तविक शुल्क ( शुल्क समिति द्वारा निगमित, मेस शुल्क एवं कॉशन मनी छोड़कर) जो कम हो, शासन द्वारा दी जायेगी। मेडिकल-राष्ट्रीय पात्रता और प्रवेश परीक्षा (नीट) के माध्यम से केन्द्र या राज्य के किसी भी शासकीय मेडिकल कॉलेज अथवा मध्यप्रदेश के किसी प्रायवेट मेडिकल कॉलेज में एम.बी.बी.एस. के लिये प्रवेश लेने पर योजना का लाभ मिलेगा। शासकीय मेडिकल कॉलेज की पूरी फीस एवं प्रायवेट कॉलेज में देय शुल्क राज्य शासन द्वारा दिया जायेगा। तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री दीपक जोशी ने बताया कि शासकीय मेडिकल कॉलेज में शिक्षित डाक्टर 2 वर्ष तक ग्रामीण क्षेत्र में कार्य करने को बाध्य होंगे। इन्हें 10 लाख रुपये का बांड भरना होगा। प्रायवेट कॉलेज के छात्रों के लिये यह अवधि 5 वर्ष तथा बांड की राशि 25 लाख रुपये होगी। लॉ- क्लेट के माध्यम से देश के किसी भी राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय में बारहवीं कक्षा के बाद के कोर्स की पूरी फीस शासन देगा। राज्य शासन के सभी कॉलेज के बी.एस-सी., बी.ए., बी. काम., नर्सिंग, पॉलीटेक्निक तथा स्नातक स्तर के सभी पाठ्यक्रमों की पूरी फीस सरकार भरेगी। शासकीय संस्थाओं के विद्यार्थियों की पूरी फीस संस्था के खाते में दी जायेगी। प्रायवेट संस्थाओं में विद्यार्थियों को देय शुल्क विद्यार्थी के खाते में दिया जायेगा। योजना का क्रियान्वयन संचालनालय तकनीकी शिक्षा द्वारा किया जायेगा। योजना शैक्षणिक सत्र 2017-18 से आरंभ की जायेगी। पोर्टल www.scholarshipportal.mp.nic.in के माध्यम से योजना का क्रियान्वयन किया जायेगा।


aaपुनरीक्षित दीनदयाल अंत्योदय उपचार योजना 13 जिलों में लागू होगी


13 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की अध्यक्षता में आज हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में पुनरीक्षित दीनदयाल अंत्योदय उपचार योजना 13 जिलों के चिन्हित जिला चिकित्सालय में लागू करने का अनुमोदन दिया गया। इस योजना में चिन्हित सुपर स्पेशिलिटी आपरेशन/ प्रोसिजर्स की सुविधा चिन्हित 13 जिला चिकित्सालयों उज्जैन, रतलाम, देवास, जबलपुर, छिंदवाड़ा, ग्वालियर, मुरैना, सतना, भोपाल, बैतूल, ,खंडवा, सागर एवं दतिया में उपलब्ध करायी जायेगी। इससे गरीबी रेखा के ऊपर के परिवारों के रोगियों को सी. जी. एच. एस. (सेंट्रल गव्हर्नमेंट हेल्थ स्कीम ) दरों पर (बाजार दर से कम) चिकित्सा उपलब्ध करायी जायेगी। मंत्रि-परिषद द्वारा प्रदेश के मेडिकल कॉलेज एवं इनसे संबद्ध अस्पतालों में मरीजों को उच्च स्तरीय सेवाएँ तथा अध्ययनरत छात्रों (मेडिकल कॉलेजों) को बेहतर प्रशासकीय सुविधाएँ उपलब्ध कराने के लिए मध्यप्रदेश चिकित्सा शिक्षा (मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल प्रबंधन) सेवा प्रारंभ करने का निर्णय लेते हुए 77 पद निर्मित करने का निर्णय लिया गया। इसमें अपर संचालक स्तर का 1 पद, संयुक्त संचालक स्तर के 9 पद , उप संचालक स्तर के 15 पद और सहायक संचालक स्तर के 52 पद मंजूर किए गए। मंत्रि-परिषद ने हाथकरघा, हस्तशिल्प, रेशम, माटी कला, चर्म शिल्प इत्यादि विभिन्न विधाओं एवं गतिविधियों में संलग्न शिल्पी एवं कारीगर (असंगठित क्षेत्र में कार्यरत) के सामाजिक-आर्थिक अधिकारों की सुरक्षा एवं समस्याओं का अघ्ययन करके समाधान करने के लिए राज्य स्तरीय कारीगर आयोग के गठन करने का निर्णय लिया है। कारीगर आयोग तीन सदस्यीय होगा। मंत्रिपरिषद द्वारा विज्ञान एवं प्रौदयोगिकी विभाग में 'मध्यप्रदेश सूचना प्रौद्योगिकी' (इलेक्ट्रानिक सर्विस डिलीवरी) नियम 2017 ' का अनुमोदन किया गया। मंत्रि-परिषद ने मेसर्स हुकुमचन्द मिल इंदौर के मजदूरों तथा सिक्योर्ड क्रेडिटस् के स्वत्वों के भुगतान के लिए भूखंडों के विपणन से प्राप्त होने वाली राशि ऑफिशियल लिक्विडेटर के साथ समन्वय करते हुए क्रियान्वयन एजेंसी द्वारा खोले गये एसक्रो अकाउन्ट में रखी जाने का निर्णय लिया। अकाउन्ट से राशि के आहरण में प्राथमिकता मुख्य अधोसंरचना विकास पर व्यय एवं मजदूरों के बकाया स्वत्वों के भुगतान को देना होगी। मंत्रि-परिषद ने श्री गुलबहार सिंह द्वारा निर्देशित फिल्म 'एक थी रानी ऐसी भी' को मध्यप्रदेश विलासिता, मनोरंजन, आमोद एवं विज्ञापन कर अधिनियम 2011 के अंतर्गत मनोरंजन कर से छूट प्रदान करने के निर्णय की अधिसूचना दिनांक 20 अप्रैल 2017 का अनुसमर्थन किया।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान होंगे टूरिज्म बोर्ड के अध्यक्ष


13 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज नवगठित मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड की पहली बैठक संपन्न हुई। मुख्यमंत्री टूरिज्म बोर्ड के अध्यक्ष होंगे। बैठक में टूरिज्म बोर्ड का बैंक खाता खोलने, डिजिटल हस्ताक्षर, भर्ती नियम बनाने, मंडल कार्यालय की स्थापना करने जैसे कार्यों के लिये टूरिज्म बोर्ड के प्रबंध संचालक को अधिकृत किया गया। संचालक मंडल में आठ सदस्य होंगे। बैठक में मुख्य सचिव श्री बी. पी. सिंह, अपर मुख्य सचिव वन श्री दीपक खांडेकर, प्रमुख सचिव संस्कृति श्री मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव नगरीय विकास श्री मलय श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री अशोक बर्णवाल, सचिव मुख्यमंत्री श्री हरिरंजन राव एवं वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा कलेक्टरों को प्याज खरीदी केंद्र बढ़ाने के निर्देश


12 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में प्याज की बम्पर आवक को देखते हुए सभी कलेक्टरों को अपने जिलों की आवश्यकता अनुसार खरीदी केंद्र बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री आज मंत्रालय से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से संभागायुक्तों और कलेक्टरों से प्याज एवं अन्य कृषि उपज की खरीदी के बारे में चर्चा कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कलेक्टरों को कानून-व्यवस्था की स्थिति पर सतत निगरानी रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सुशासन सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। कानून-व्यवस्था भंग करने वालों के विरूद्ध सख्ती से पेश आये। श्री चौहान ने कलेक्टरों से कहा कि प्याज की खरीदी और वितरण तत्काल करें। उन्हें जरूरत पड़ने पर जिले की आवश्यकता और सुविधानुसार खरीदी केंद्र स्थापित करने के अधिकार दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि प्याज के ट्रकों को खाली करवाये और उन्हें वापस भरकर दोबारा भेजें ताकि परिवहन की निरंतरता बनी रहे। राशन दुकानों के माध्यम से प्याज दो रूपये प्रति किलो की दर से गरीबो को बेची जायेगी। बताया गया कि प्याज खरीदी तेजी से हो रही है। मूंग खरीदी के लिए भारत सरकार की नाफेड संस्था द्वारा व्यवस्था की गई है। तुअर के लिए 80, मूंग के लिए 62 और उड़द के लिए 48 खरीदी केंद्र स्थापित किए गए हैं। ये खरीदी केन्द्र बढ़ाये जा सकते हैं। मुख्यमंत्री ने खरीदी की व्यवस्था पर सतत निगरानी रखने के निर्देश दिए। राज्य शासन नाफेड को पूरा सहयोग देगा। मुख्यमंत्री ने साफ़ किया कि प्याज या अन्य उपजों की खरीदी की कोई सीमा नहीं रखी गई है। किसान जितना लाये, सब ख़रीदे। कपास उत्पादक जिलों के कलेक्टरों को निर्देश दिए गए कि बी टी काटन बीज की दर भारत सरकार दवारा निर्धारित दरों से ज्यादा कीमत में नहीं बिकना चाहिए। यदि ऐसा होता है तो सख्त कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कलेक्टरों को प्रभावी जन-सुनवाई करने के निर्देश दिए। ताकि जनता को समय पर सेवाएँ उपलब्ध हो जायें। मुख्यमंत्री ने 'स्कूल चलें हम' अभियान और नर्मदा के किनारे दो जुलाई को वृक्षारोपण की तैयारियों के सम्बन्ध में भी चर्चा की। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी. पी. सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री आर. के. शुक्ला और वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


aaमंडियों में अधिसूचित कृषि जिन्स का समर्थन मूल्य से कम पर विक्रय नहीं होगा


12 Jun 2017

प्रदेश की कृषि उपज मंडियों में अधिसूचित कृषि जिन्सों का घोषित समर्थन मूल्य से कम मूल्य पर विक्रय नहीं किया जायेगा। किसानों को उनकी उपज का पारदर्शी, उचित और प्रतिस्पर्धात्मक बाजार मूल्य उपलब्ध कराने के लिये राज्य कृषि विपणन बोर्ड द्वारा आज इस बाबत विस्तृत निर्देश जारी किये गये हैं। बोर्ड के प्रबंध संचालक श्री राकेश श्रीवास्तव ने यह जानकारी देते हुए बताया है कि जिन मंडियों में समर्थन मूल्य पर खरीदी का कार्य आरंभ नहीं किया गया है अथवा समाप्त हो चुका है, वहाँ पर उप-विधियों के प्रावधानानुसार खुले घोष विक्रय में प्राप्त उच्चतम दर पर किसान की सहमति के उपरांत ही अधिसूचित कृषि जिन्स का विक्रय सम्पन्न कराया जायेगा। मंडियों को जारी निर्देशों में स्पष्ट किया गया है कि अगर मंडियों में अधिसूचित कृषि जिन्स के मूल्य, समर्थन मूल्य से कम मूल्य पर लगातार दो दिन से अधिक अवधि तक प्रचलित रहते हैं, तो मंडी सचिव प्रस्ताव तैयार कर जिला कलेक्टर को इसकी सूचना देगें और संबंधित शासकीय संस्थाओं का अवगत कराने के साथ-साथ व्यक्तिगत सम्पर्क कर शीघ्र कार्यवाही सुनिश्चित करेगें। मंडी सचिवों को यह दायित्व होगा कि प्रतिदिन की समस्त कार्यवाहियों से बोर्ड के आँचलिक कार्यालयों को अवगत करायें। आँचलिक कार्यालयों का यह दायित्व होगा कि संबंधित जिला कलेक्टर से सम्पर्क कर शीघ्र उपार्जन व्यवस्थाएँ करवायेंगे और बोर्ड के मुख्यालय को नियमित रूप से सूचित भी करेंगे। प्रदेश की मंडियों में अधिसूचित कृषि जिन्स की समर्थन मूल्य पर खरीदी का कार्य जारी है। अमानक स्तर की अधिसूचित कृषि जिन्स का सेम्पल मंडियों में संधारित करते हुए उप विधियों के प्रावधान के अनुसार खुले घोष के माध्यम से नीलाम किये जायेंगे। किसान की सहमति के उपरांत ही विक्रय की कार्यवाही सम्पन्न होगी।


aaप्रदेश में स्वीट कार्न के उत्पादन को बढ़ावा दिया जायेगा


12 Jun 2017

प्रदेश में अब किसानों को 'स्वीट कार्न' के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिये प्रेरित किया जायेगा। राष्ट्रीय कृषि विकास योजना में वर्ष 2017-18 के अंतर्गत यह स्वीकृति प्रदान की गई है। इस परियोजना का मुख्य उद्देश्य कृषकों को स्वीट कार्न फसल के माध्यम से अधिक उत्पादन कर उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार लाना है। इस योजना में इसमें उज्जैन, नीमच, धार, रतलाम, छिन्दवाड़ा, मंदसौर, इंदौर, खंडवा कटनी जिलों को शामिल किया गया है। कृषकों को स्वीट कार्न का बीज राष्ट्रीय बीज, निगम, बीज-फार्म विकास निगम एवं कृषि विश्व-विद्यालय के माध्यम से उनकी माँग के अनुसार प्रदाय किया जायेगा। प्रोजेक्ट के तहत स्वीट कार्न बीज के उपर्जान प्रदर्शन समूहों/क्लस्टरों में आयोजित किये जाएंगे। इसके लिये ग्रामण कृषि विस्तार अधिकारी द्वारा क्षेत्र के 100-150 कृषकों के समूह तैयार कराये जाएंगे। इसके लिए किसानों को 4000/- रुपये प्रति एकड़ हितग्राही के मान से अनुदान सहायता भी प्रदान की जायेगी। किसानों को स्वीट कार्न बीज का एक एकड़ क्षेत्र में प्रदर्शन होगा। जिसके लिए अधिकतम 2 किलोग्राम प्रति एकड़ के मान से बीज उपलब्ध होगा। सभी श्रेणी के कृषि भूमि स्वामी इस योजना के हितग्राही होगें।


aaकिसानों को किसी प्रकार की परेशानी नहीं होने देंगे - मुख्यमंत्री श्री चौहान


10 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ भेल दशहरा मैदान पर प्रदेश में शांति के लिए अनिश्चितकालीन उपवास शुरू किया। प्रदेश में आंदोलनरत किसानों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि उनकी हर सांस प्रदेश के विकास के लिए और किसानों के कल्याण के लिए समर्पित है। खेती-किसानी और किसानों का कल्याण, हमेशा प्रदेश सरकार की प्राथमिकता रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार संवाद का रास्ता अपनाने के लिये तैयार है लेकिन किसी भी कीमत पर राज्य को आग के हवाले नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि कुछ निहित स्वार्थी तत्वों द्वारा यह दुष्प्रचार किया जा रहा है कि किसानों को सरकार एक धेला नहीं देगी। उन्होने इसका जोरदार खंडन करते हुए कहा कि किसानों के लिये वे जिन्दगी भी दे सकते हैं। मुख्यमंत्री के समर्थन में मंत्रिमंडल के सदस्य और किसान संगठनों के प्रतिनिधि उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हिंसा नहीं संवाद और शांति ही हर समस्या का हल है। उन्होंने कहा कि हिंसा से किसी का लाभ नहीं होगा। सरकार हमेशा बातचीत के लिये तैयार है। उन्होंने कहा कि किसानों के लिये जीवन भी दे सकते हैं लेकिन उन्हें परेशानी नहीं होने देंगे। लोगों की रक्षा और लोक संपत्तियों की सुरक्षा के लिये राजधर्म का पालन किया जायेगा। शांति भंग करने वालों के विरूद्ध सख्ती बरती जायेगी। उन्होंने कहा कि किसान नहीं, कुछ मुट्ठीभर लोग हिंसा फैला रहे हैं, उनसे सख्ती से निपटा जायेगा। उन्होंने कहा कि एक बार राज्य अराजक हो जाये तो मुश्किल होगी। इंसानियत, मोहब्बत और शांति का संदेश देने के लिये उपवास रखा है। अलोकतांत्रिक तरीके अपनाना गलत है। श्री चौहान ने कहा कि वे चर्चा और संवाद के लिये हमेशा तैयार हैं। प्रदेश की शांति को किसी भी कीमत पर भंग नहीं होने देंगे। किसानों के बीच कुछ लोग हिंसा फैलाने वाली बातें कहते पाये गये, यह ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार प्रभावित किसान परिवारों के साथ है। उनकी वेदना और दर्द को समझते हैं। यदि शांति भंग होती है तो कुछ हासिल नहीं होगा। आंदोलनकारी किसानों से संवाद का रास्ता चुनने का आग्रह करते हुए कहा कि जब तक शांति स्थापित नहीं होगी उपवास चलता रहेगा। श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश की किसान हितैषी नीतियों के कारण कृषि उत्पादन बढ़ा है। सिंचाई 40 लाख हेक्टेयर में हो रही है। मालवा को रेगिस्तान बनने से रोक दिया गया है। कृषि ऋण 12 प्रतिशत ब्याज से घटाकर जीरो प्रतिशत कर दिया गया है। एक लाख के लोन पर 90 हजार वापस लौटाने की सुविधा दी गयी है। किसानों को भरपूर बिजली मिल रही है। जब भी किसानों पर विपदा आई, वे घर पर नहीं बैठे, किसानों के बीच गये। खेती की लागत कम करने, समय पर खाद बीज देने और फसल में विविधता लाने के अच्छे परिणाम मिले हैं। सोयाबीन की फसल ख़राब होने पर 4800 करोड़ की राहत दी। बीमा के 4400 करोड़ रूपये दिए। किसानों की आय दोगुनी करने के सभी प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार की नीतियों के कारण फसलों का बम्पर उत्पादन हुआ है। अन्न के भंडार भर गए हैं। ज्यादा उत्पादन होने से कीमतें कम हुई हैं लेकिन किसानों को लाभकारी मूल्य देने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। स्थिति को देखते हुए सरकार ने आठ रूपये किलो प्याज खरीदने, समर्थन मूल्य पर तुअर, उड़द और ग्रीष्मकालीन मूंग खरीदने का निर्णय लिया है। किसानों को लाभकारी मूल्य दिलाने के लिए हर संभव उपाय किये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की मर्जी के बिना उनकी जमीन नहीं ली जायेगी। इसके लिये अध्यादेश लाया जायेगा। डिफाल्टर किसानों के लिये एक योजना बनाई जायेगी ताकि वे दोबारा लोन लेने के लिये पात्र बन जायें और लोन का भरपूर उपयोग करें। आरटीजीएस के माध्यम से भुगतान करने के लिये निर्देश दे दिये गये हैं। कृषि उपज का लागत मूल्य निर्धारित करने और उन्हें लाभकारी मूल्य दिलाने के लिये कृषि लागत एवं विपणन आयोग बनाया जा रहा है। एक हजार करोड़ रूपये की लागत से मूल्य स्थिरीकरण कोष की स्थापना की जा रही है। इससे किसानों को ऐसे समय में भी घाटा नहीं होगा, जब अधिक उत्पादन से कीमतें गिर गई हों। श्री चौहान ने कहा कि हिंसक आंदोलन से जिन लोगों की निजी संपत्तियों को नुकसान हुआ है, उन्हें भी राहत दी जायेगी। इसमें करीब 800 पुलिसकर्मी घायल हुए। दूध, सब्जियां नष्ट हुई। करीब 197 बसों को जलाया गया। दूध फेंकने के काम को सहन नहीं कर सकते। जनता की सुरक्षा, उनकी सम्पत्तियों की सुरक्षा के लिये राजधर्म का पालन किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने विभिन्न जिलों से आये किसान संगठनों, संस्थाओं के प्रतिनिधियों से विभिन्न मुददों पर अलग-अलग चर्चा की।


aaजनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र को काव्य संग्रह भेंट


9 Jun 2017

जनसंपर्क, जल-संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र को आज निवास पर कवि और फिल्मकार श्री अनिल गोयल ने काव्य संग्रह ''उसी चौखट से '' की प्रति भेंट की। इस संग्रह में माँ पर केन्द्रित कविताओं को शामिल किया गया है। पुस्तक सचित्र है जिसमें माँ की विविध छवियां संकलित हैं। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने इसे उत्कृष्ट प्रकाशन बताते हुए श्री गोयल को बधाई दी।


aaवन मंत्री श्री शेजवार का दौरा कार्यक्रम


9 Jun 2017

प्रदेश के वन, योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री श्री गौरी शंकर शेजवार 10 जून की दोपहर तीन बजे शताब्दी एक्सप्रेस से मुरैना जाएंगे। मुरैना में स्थानीय कार्यक्रमों में शामिल होने के बाद श्री शेजवार 11 जून के भोपाल एक्सप्रेस से वापस भोपाल पहुँचेंगे।


aaराज्य के बाहर उपचार के लिये रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल, रायपुर (छत्तीसगढ़) को मान्यता


9 Jun 2017

राज्य शासन ने रामकृष्ण केयर हॉस्पिटल, रायपुर (छत्तीसगढ़) को मध्यप्रदेश सिविल सेवा (चिकित्सा परिचर्या) नियम, 1958 के नियम (ब) के अंतर्गत अधिकारियों/कर्मचारियों तथा उनके परिवार के आश्रितों को कार्डियोलाजी एण्ड कार्डियक सर्जरी, लेप्रोस्कोपिक सर्जरी, आर्थोपेडिक सर्जरी, न्यूरोलॉजी एण्ड न्यूरोसर्जरी, प्लास्टिक सर्जरी, गेस्ट्रोइन्ट्रोलाफजी, गायनोकोलाजी, यूरोलॉजी एण्ड न्रफोलॉजी (Except Transplantation), मेडिसिन के उपचार के लिये मान्यता प्रदान की गई है। यह मान्यता राज्य शासन द्वारा राज्य के अन्दर मान्यता प्राप्त संस्थाओं द्वारा निर्धारित दरों पर प्रदान की गई है। यह मान्यता नगर निगम रायपुर द्वारा जारी पंजीयन अवधि 31 मार्च, 2018 तक के लिये दी गयी है।


aaबातचीत के लिये सरकार हमेशा तैयार है


8 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने किसानों से शांति बनाये रखने की अपील की है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार किसानों की सरकार है, जनता की सरकार है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वे हमेशा जनता और किसानों के लिये काम करते रहेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसानों के हित में राज्य सरकार द्वारा अनेक महत्वपूर्ण फैसले लिये गये हैं। प्याज 8 रूपये किलो खरीदा जा रहा है। समर्थन मूल्य पर मूंग, उड़द और तुअर की खरीदी 10 जून से प्रारंभ की जा रही है। उन्होंने कहा कि समस्याओं के समाधान और बातचीत के लिये वे हमेशा तैयार हैं। चर्चा करके ही समस्याओं का समाधान हो सकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ अराजक तत्व प्रदेश को हिंसा की आग में झोंकना चाहते हैं, उनसे हम सख्ती से निपटेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किसानों से आग्रह किया है कि अराजक तत्वों के मनसूबे कभी कामयाब नहीं होने दें, शांति बहाली में सहयोग दें। उन्होंने किसानों से अपील की कि मिलजुल कर प्रदेश को विकास के पथ पर आगे बढ़ायें।


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने बरखेड़ीकलां में किया नाली निर्माण का भूमि-पूजन


8 Jun 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने वार्ड 26 स्थित बरखेड़ीकलां में नाली निर्माण के लिये भूमि-पूजन किया। श्री गुप्ता ने चूना भट्टी स्थित सागर गार्डन में पोध-रोपण भी किया। उन्होंने कहा कि पौधों की वृक्ष बनने तक सुरक्षा करें। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aa5 भाप्रसे अधिकारियों की पदस्थापना


8 Jun 2017

राज्य शासन द्वारा 5 भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों की नवीन पदस्थापना की गई है। श्री स्वतंत्र कुमार सिंह कलेक्टर मंदसौर को उप सचिव मध्यप्रदेश शासन और श्री ओमप्रकाश श्रीवास्तव कलेक्टर शिवपुरी को कलेक्टर मंदसौर बनाया गया है। इसी तरह श्रीमती तन्वी सुन्द्रियाल अपर प्रबंध संचालक म.प्र.पर्यटन विकास निगम एवं अपर प्रबंध संचालक म.प्र. टूरिज्म बोर्ड को कलेक्टर रतलाम, श्री तरूण राठी उप सचिव खनिज विभाग को कलेक्टर शिवपुरी और श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह आयुक्त नगरपालिक निगम सागर को कलेक्टर नीमच के पर पदस्थ किया गया है।


aaस्नातक स्तर के सामान्य पाठ्यक्रमों में सेमेस्टर प्रणाली समाप्त


6 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की अध्यक्षता में आज हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में प्रदेश के महाविद्यालयों में संचालित हो रहे स्नातक स्तर के सामान्य पाठ्यक्रमों बीए, बीएससी, बीकॉम के लिए सेमेस्टर प्रणाली को समाप्त करने का निर्णय लिया गया। अकादमिक सत्र 2017-18 से वार्षिक पद्धति अपनायी जायेगी। इसमें वार्षिक तथा आंतरिक मूल्यांकन की व्यवस्थाएँ क्रमश: 80 और 20 के अनुपात में होंगी। स्नातक स्तर के निर्धारित पाठ्यक्रमों में नियामक संस्थाओं के प्रावधान अनुसार निर्धारित प्रणाली को अपनाया जायेगा। स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में सेमेस्टर पद्धति यथावत रहेगी। मंत्रि-परिषद ने जल-संसाधन विभाग द्वारा संचालित लघु सिंचाई कार्यक्रम को आगामी तीन वर्षों के लिए निरंतर रखने की अनुमति दी है। इस अवधि में 4060 करोड़ 44 लाख रुपए का व्यय किया जायेगा और 300 लघु सिंचाई परियोजनाएँ पूर्ण कर एक लाख 70 हजार हेक्टेयर सैंच्य क्षमता सृजित की जायेगी। मंत्रि-परिषद ने दतिया में निर्मित स्टेडियम का उन्नयन तथा खेल प्रशिक्षण केंद्र के संचालन के लिए 4 करोड़ 80 लाख 68 हजार रुपए की स्वीकृति और 9 पद आउटसोर्स के आधार पर रखने की अनुमति दी है। इसी प्रकार शिवपुरी में प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना के लिए 11 करोड़ 70 लाख 9 हजार रुपए और 13 पद आउटसोर्स के आधार पर रखने की मंजूरी दी गई।
रीवा में खेल परिसर स्वीकृत
रीवा में खेल परिसर का निर्माण एवं संचालन के लिए 12 करोड़ 6 लाख 85 हजार रुपए और 19 पद आउटसोर्स के आधार पर रखने की अनुमति दी। मंत्रि-परिषद ने भोपाल शहर के गैस प्रभावित क्षेत्र में सामाजिक एवं पर्यावरणीय मूलभूत सुविधाओं के लिए कुल 74 करोड़ 75 लाख रुपए की स्वीकृति देकर प्रस्ताव भारत सरकार को स्वीकृति के लिए भेजने की अनुमति दी। इसमें सामाजिक पुनर्वास के तहत आवास निर्माण के लिए 14 करोड़ रुपए और आर्थिक पुनर्वास के लिए 60 करोड़ 75 लाख रुपए के कार्य किए जायेंगे। मंत्रि-परिषद ने मुख्यमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कार नियम 2007 में संशोधन करने की भी अनुमति दी।


aaजनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र कर्नाटक में मोदी फेस्ट में शामिल होंगे


6 Jun 2017

जनसंपर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र बुधवार 7 जून को भोपाल से वायुयान द्वारा मुम्बई जाएंगे। डॉ. मिश्र इसी शाम बेलगावी (बेलगांव) एयरपोर्ट पहुँचकर बगलकोट नगर जाएंगे। जनसम्पर्क मंत्री बगलकोट में आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में किए जा रहे विकास कार्यों एवं उपलब्धियों की जानकारी देंगे। डॉ. मिश्र कार्यक्रम के पश्चात बगलकोट में ही रात्रि विश्राम करेंगे तथा 8 जून की सुबह बेलगावी से मुम्बई होकर रात्रि में भोपाल वापस लौट आएंगे।


aaकिसानों को गुमराह करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाये


6 Jun 2017

गृह मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने किसानों को गुमराह करने वाले आपराधिक तत्वों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिये है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में शांति और सौहार्द्र का वातावरण बना रहे, इसके लिये पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था हो। गृह मंत्री श्री सिंह आज मंत्रालय में गृह विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ कानून व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने शांति व्यवस्था को बनाये रखने के लिये थाना स्तर पर होने वाली गणमान्य नागरिकों एवं सामाजिक कार्यकर्त्ताओं की बैठक हर माह पर आयोजित करने के निर्देश दिये। गृह मंत्री श्री सिंह ने कहा है कि सोशल मीडिया के माध्यम से अफवाह फैलाने वालों पर नजर रखी जाये। साथ ही उनके खिलाफ अपराध कायम कर कार्यवाही की जाये। उन्होंने कहा कि जहाँ अपराध बढ़े है, वहाँ थाना प्रभारी और पुलिस अधीक्षक स्वयं संज्ञान लें। श्री सिंह ने कहा कि अवैध हथियार रखने वालों के खिलाफ मुहिम चलाई जाये। गृह मंत्री श्री सिंह ने सड़क दुर्घटना में वृद्धि को देखते हुए कहा कि ट्रेफिक कंट्रोल के लिये कार्य-योजना बनाई जाये। चेकिंग के दौरान नशे में वाहन चलाने वालों को पकड़ने के लिये ब्रेथ-एनालाइजर का अधिक से अधिक उपयोग किया जाये। शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों के खिलाफ अभियान चलायें।


aaजनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा द्वारा विश्व पर्यावरण दिवस पर पौधारोपण


5 Jun 2017

जनसंपर्क एवं जल-संसाधन मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने नई दिल्ली में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर स्व. श्री अनिल माधव दवे की स्मृति में कांस्टीट्यूशन क्लब में पौधारोपण किया। इस अवसर पर पर्यावरणविद, संयुक्त राष्ट्र के प्रतिनिधि और धर्माचार्य आदि मौजूद थे। श्री मिश्रा ने केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री श्री अनिल माधव दवे द्वारा पर्यावरण के क्षेत्र में अभूतपूर्व योगदान के लिए याद किया।


aaग्रामीण क्षेत्रों में परिवहन सेवा देने वाले ट्रान्सपोर्टस् को ही मिलेगा परमिट


5 Jun 2017

परिवहन मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने ग्रामीण परिवहन योजना में परिवहन विहीन गाँव पर यातायात सेवा देने वाले आपरेटरों को ही परमिट देने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि जिन गाँवों में अच्छी सड़क बनी है और उस पर आवागमन के लिये परिवहन सेवा उपलब्ध नहीं है, ऐसे गाँव को रूट में जोड़कर वहाँ के ग्रामीणों को परिवहन सेवा का लाभ पहुँचाया जाये। परिवहन मंत्री श्री सिंह ने आज मंत्रालय में परिवहन विभाग की समीक्षा करते हुए अधिकारियों से कहा कि गाँव के युवाओं को महाविद्यालय आने-जाने के लिये बस-पास की सुविधा का कार्य जल्द शुरू किया जाये। उन्होंने कहा कि सभी शासकीय महाविद्यालय के ग्रामीण-छात्रों को यह सुविधा उपलब्ध करवायी जाये। शहर, विकासखंड, जनपद पंचायत, नगर पंचायत जहाँ भी शासकीय महाविद्यालय है और ग्रामीण छात्र इसमें पढ़ाई के लिये आता-जाता है, तो इस योजना में उसे लाभ दिया जायेगा। श्री भूपेन्द्र सिंह ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि वाहनों के चेंकिंग अभियान में स्पीड गर्वनर की जाँच अनिवार्य रूप से की जाये। उन्होंने इसके लिये आवश्यक चालानी कार्यवाही करने के भी निर्देश दिये। श्री सिंह ने सभी चालक-परिचालक का पंजीयन आवश्यक रूप से करवाये जाने के भी निर्देश दिये। परिवहन मंत्री श्री सिंह ने कहा कि परिवहन विभाग के बस-स्टेंट को नगरीय निकाय को सौंप कर पूर्ण जिम्मेदारी उनकी तय की जाये। बताया गया वर्ष 2013 की तुलना में इस वर्ष दोगुना से अधिक राजस्व प्राप्त हुआ है और पिछली सरकार के मुकाबले सात गुना वृद्धि हुई है। परिवहन मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने बैठक में प्रमुख सचिव परिवहन श्री एस.एन. मिश्रा और अतिरिक्त परिवहन आयुक्त श्री आर.के. जैन सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से ऑटोमेटिक फिटनेस सेन्टर, ड्राईविंग ट्रेक आदि पर भी चर्चा की।


aaनि:शक्तजन विशेष भर्ती अभियान में 16 जून को प्रमाण-पत्रों का परीक्षण


5 Jun 2017

उद्योग संचालनालय द्वारा नि:शक्तजन विशेष भर्ती अभियान में श्रवण बाधित एवं दृष्टि बाधित अभ्याथियों को प्रमाण-पत्र एवं अंक सूची के परीक्षण के लिए 16 जून को उद्योग संचालनालय, विध्याचल भवन, चौथी मंजिल पर आमंत्रित किया गया है। विभाग द्वारा सहायक वर्ग-3 के लिए श्रवण बाधित एवं दृष्टि बाधित तथा भृत्य के पद के लिए श्रवण बाधित अभ्यार्थियों से आवेदन आमंत्रित किए गये थे। संबंधित पद के लिए निर्धारित शैक्षणिक योग्ता में अर्जित अंकों के आधार पर तैयार की गई प्रवीणता के आधार पर अंक सूची एवं प्रमाण-पत्र परीक्षण के लिए अभ्यार्थियों को आमंत्रित किया गया है। विस्तृत जानकारी विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध है। www.mpmsme.gov.in


aaउद्यमियों को प्रोत्साहित करने इंक्यूबेशन और स्टार्ट-अप नीति में बने चार क्लस्टर


3 Jun 2017

प्रदेश में उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिये राज्य सरकार ने इंक्यूबेशन और स्टार्ट-अप नीति बनायी है। नीति में निजी इंक्यूबेटरों की स्थापना को प्रोत्साहित किया जायेगा। इससे राज्य के स्टार्ट-अप को अपने आसपास के क्षेत्र में एक मजबूत सहयोगी बुनियादी ढाँचा मिल सकेगा। प्रदेश में एस्पायर स्कीम के तहत देवास क्षेत्र में लेदर और सतना में बाँस क्लस्टर के लिये एक-एक इंक्यूबेशन सेंटर स्थापित किया गया है। ग्वालियर में टेक्सटाइल इंक्यूबेशन सेंटर की स्थापना के लिये 16 करोड़ रुपये की मंजूरी केन्द्र सरकार से मिली है। न्यू टेक्नालॉजी सेंटर टूल-रूम केन्द्र सरकार के सहयोग से टेक्नालॉजी सेंटर प्रोग्राम (टीसीएसपी) में रुपये 125 करोड़ की लागत से न्यू टेक्नालॉजी सेंटर टूल-रूम स्थापित किया जा रहा है। इस की स्थापना के लिये ग्राम अचारपुरा जिला भोपाल में 25 एकड़ भूमि आरक्षित की गयी है। स्टेण्ड-अप योजना में 5 लाख लोगों को रोजगार प्रदेश में पिछले वर्ष करीब 5 लाख 50 हजार युवाओं को केन्द्र सरकार की मुद्रा तथा स्टेण्ड-अप योजना में मदद दी गयी है। इस वित्तीय वर्ष में 7 लाख 50 हजार युवाओं को मुद्रा और स्टेण्ड-अप योजना में आर्थिक मदद पहुँचाकर स्व-रोजगार दिलवाया जायेगा। क्लस्टरों का विकास प्रदेश में क्लस्टरों के विकास के लिये भी तेजी से काम किया जा रहा है। उज्जैन में प्लास्टिक उद्योग को समर्पित एक आम सुविधा-केन्द्र के विकास के लिये परियोजना को मंजूरी दी गयी है। प्रदेश में यह पहला आम सुविधा-केन्द्र है। इसके साथ ही नमकीन एण्ड एलाइड क्लस्टर, करमदी, रतलाम, अपेरल क्लस्टर, विजयपुर, इंदौर, फूड क्लस्टर, बड़ौदी शिवपुरी और रेडीमेड गारमेंट पार्क, गदईपुरा ग्वालियर में अधोसंरचना विकास के लिये केन्द्र सरकार की मंजूरी प्राप्त हो गयी है। वस्त्र उद्योग में युवाओं को प्रशिक्षण और रोजगार उपलब्ध कराने के लिये एकीकृत कौशल विकास योजना शुरू की गयी है। मार्च-2017 तक इसमें 2200 प्रशिक्षणार्थी को रोजगार उपलब्ध करवाया गया है।


aaविश्व पर्यावरण दिवस पर होंगे कार्यक्रम और प्रतियोगिताएँ


3 Jun 2017

विश्व पर्यावरण दिवस पर एप्को द्वारा 4 और 5 जून को भोपाल में विभिन्न प्रतियोगिता और कार्यक्रम किये जायेंगे। इनमें छात्र-छात्राएँ और नागरिक भाग लेंगे। चार जून को पर्यावरण परिसर में 'प्रकृति और जीवन का संबंध'' पर सुबह 9 बजे से चित्रकला और 11 बजे से तात्कालिक निबंध-लेखन प्रतियोगिता होगी। दोनों प्रतियोगिता दो-दो वर्ग में होंगी। प्रथम वर्ग में पाँचवीं से आठवीं तक और द्वितीय वर्ग में कक्षा-नवीं से बारहवीं तक के विद्यार्थी भाग लेंगे। सभी वर्ग में श्रेष्ठ 3-3 विजेता को 5-5 हजार रुपये का नगद पुरस्कार दिया जायेगा। पाँच जून को पर्यावरण प्रेमियों के लिये ध्यान योग एवं शास्त्रीय संगीत का कार्यक्रम 'प्रकृति के सान्निध्य में'' प्रात: 6 बजे से होगा। इसके बाद सुबह 8 से दोपहर 2 बजे तक संकल्प बीज कार्यक्रम में वृक्षारोपण के लिये सीड बॉल तैयार किये जायेंगे। मिट्टी और बीज आयोजक द्वारा उपलब्ध करवाये जायेंगे। शाम 4 बजे पुरस्कार वितरण होगा।


aaप्रदेश सरकार किसानों की सरकार


2 Jun 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने पिछले एक-दो दिन में किसानों से अपील की है कि वे उनके नाम से अराजकता फैलाने वालों से सावधान रहें और किसी तरह के बहकावे में न आयें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि किसानों की हाड़-तोड़ मेहनत से मध्यप्रदेश राज्य देश में नहीं विश्व में कृषि विकास दर में अग्रणी है। श्री चौहान ने कहा है कि चर्चा और संवाद ऐसे माध्यम हैं, जिनसे हर समस्या का निदान करने में हम सक्षम हो सकते हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश के किसान परेशान हों, यह जानकर ही पीड़ा होती है। उन्होंने कहा कि किसानों की वर्तमान समस्याओं को हल करने के लिये सरकार तत्पर और तैयार है। श्री चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश सरकार पहली ऐसी सरकार है जिसने किसानों को पहले 16-17 प्रतिशत ब्याज दर पर मिलने वाले कृषि ऋणों को शून्य प्रतिशत ब्याज पर देने की व्यवस्था की। यही नहीं सरकार ने व्यवस्था की है कि एक लाख का कृषि ऋण लेने वाले किसानों को महज 90 हजार ही अदा करने होंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि न केवल बिना ब्याज के कृषि ऋण बल्कि राज्य सरकार ने पिछले 11 वर्ष में किसानों और खेती-किसानी के हक में जो फैसले लिये वे देश ही नहीं पूरे विश्व में उदाहरण बने। प्रदेश को लगातार पाँच बार कृषि कर्मण अवार्ड का मिलना इसका प्रत्यक्ष प्रमाण है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि खाद की किल्लत को दूर करने के लिये खाद का अग्रिम भण्डारण, खेत तालाब योजना, मुख्यमंत्री खेत तीर्थ योजना, हलधर योजना, मेरा खेत मेरी माटी योजना, खाद्य प्र-संस्करण, कृषि यंत्रीकरण को प्रोत्साहन देने के लिये देश में सबसे ज्यादा अनुदान और प्रोत्साहन की योजना, फसल बीमा का सफल क्रियान्वयन और कृषि सहयोगी मत्स्य पालन, पशुपालन, उद्यानिकी फसलों की खेती को बढ़ावा, रेशम पालन, बाँस उत्पादन, लाख उत्पादन, समर्थन मूल्य पर अतिरिक्त बोनस राशि देकर गेहूँ और अन्य खाद्यान्नों की खरीदी, सरकार के ऐसे प्रयास रहे हैं, जो सर्वथा किसान हितैषी रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार ने खेती को लाभकारी बनाने को अपनी सर्वोच्च प्राथमिकताओं में न केवल शामिल किया बल्कि उसके लिये काम भी किया। श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में आज लगभग 40 लाख हेक्टेयर में सिंचाई सुविधा उपलब्ध है, जो अब से 10-12 वर्ष पहले महज 7.5 लाख हेक्टेयर में थी। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश देश के उन दो-तीन राज्यों में से है, जिसने खेती के लिये कम से कम 10 घंटे बिजली की उपलब्धता सुनिश्चित की है। मुख्ममंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश कृषि प्रधान प्रदेश है। मैं स्वयं किसान पुत्र हूँ। मैं जानता हूँ कि खेती-किसानी और किसानों की समस्याएँ क्या हैं। मैंने इन समस्याओं के निदान के लिये हरसंभव प्रयास किये हैं। सरकार के प्रयासों को देश और विश्व में सराहा भी है। प्रदेश को एग्रीकल्चर लीडरशिप अवार्ड मिला है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश अपने किसानों की संख्या के अनुसार देश में सबसे ज्यादा राशि के अल्पकालीन और मध्यम कालीन ऋण देता है। किसान क्रेडिट कार्ड और मृदा स्वास्थ्य कार्ड वितरण में भी प्रदेश अग्रणी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के आव्हान पर वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने का रोड मेप न केवल मध्यप्रदेश ने सबसे पहले तैयार किया बल्कि उस पर अमल भी शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कृषि क्षेत्र का विस्तार, उन्नत बीजों का प्रसार, उन्नत कृषि तकनीकी के प्रसार, फार्मर प्रोड्यूसर कम्पनियों के गठन, उद्यानिकी क्षेत्र विस्तार, जैविक खेती का विस्तार, कृषि क्षेत्र में आपदा प्रबंधन, कृषि विपणन व्यवस्था का सुदृढ़ीकरण राज्य सरकार के ऐसे प्रगतिशील और प्रभावी कदम हैं, जो किसानों की हितचिन्ता में उठाये गये हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि पिछले वर्ष प्याज की समर्थन मूल्य पर खरीदी करने वाला देश में अकेला मध्यप्रदेश था। उन्होंने कहा कि आज भी किसानों की जो समस्या है, उन्हें हल करने के लिये मध्यप्रदेश सरकार तत्पर है। उन्होंने कहा कि मुझे अभी भी विश्वास नहीं है कि फसलों का सड़क पर फेंकना और दूध जैसे अमृत को सड़क पर बहाने जैसे काम प्रदेश के किसान भाई कर सकते हैं। यह कुछ निहित स्वार्थी तत्वों का किसान भाइयों, पशुपालकों को बरगलाने का प्रयास है। उन्होंने कहा कि हाड़-तोड़ मेहनत से उपजी फसलों और दूध की बर्बादी और वह भी मध्यप्रदेश में, उन्हें पीड़ा देती है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वे मिल-बैठकर किसानों की हर समस्या का समाधान निकालने के लिये तैयार हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किसानों से अपील की है कि वे चर्चा और संवाद के लिये आगे आयें। साथ ही अपनी उपज और दूध को बर्बाद न करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार किसानों की सरकार है और रहेगी। राज्य सरकार किसानों को आर्थिक नुकसान बरदाश्त नहीं कर सकती और न करेगी।


aaवन मंत्री डॉ. शेजवार दौरा कार्यक्रम


2 Jun 2017

वन, योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून को जबलपुर में 'पेड़ लगाओ यात्रा' का शुभारंभ करेंगें। डॉ. शेजवार दो जुलाई को होने वाले वृहद वृक्षारोपण की तैयारियों की समीक्षा भी करेगें। वन मंत्री 6 जून की सुबह भोपाल लौट आयेंगे।


aaपर्यटन क्षेत्र में रोजगार सृजन की व्‍यापक संभावनाएँ


1 Jun 2017

‘ग्लोबल स्किल एण्ड एम्प्लॉयमेंट समिट’ में आज ‘पर्यटन क्षेत्र में कौशल विकास एवं रोजगार के अवसर’ पर महत्वपूर्ण और सार्थक विमर्श हुआ। सत्र की विशेषता यह रही कि मुख्‍यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान अचानक इस सत्र में पहुँचे और आम प्रतिभागी की तरह उन्‍होंने अपनी सहभागिता की। सत्र में राज्‍य पर्यटन विकास निगम के अध्‍यक्ष श्री तपन भौमिक, मुख्‍य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह एवं पर्यटन सचिव तथा पर्यटन निगम के एम.डी. श्री हरि रंजन राव सहित आमंत्रित विषय-विशेषज्ञ और प्रतिभागी मौजूद थे। राज्‍य पर्यटन विकास निगम के अध्‍यक्ष श्री तपन भौमिक ने सत्र में कहा कि मध्‍यप्रदेश में पर्यटन के जरिये रोजगार को बढ़ावा देने की दिशा में सतत् प्रयास किये जा रहे हैं। प्रदेश में पर्यटन क्षेत्र में व्‍यापक संभावनाएँ हैं। इसी को देखते हुए जल-पर्यटन, होटल प्रबंधन, रेलवे कुली, ऑटो चालक, पर्यटन पुलिस और होम-स्‍टे योजना में विभिन्‍न प्रशिक्षण की व्‍यवस्‍था की गई है। प्रदेश में 23 हजार 700 लोगों को पर्यटन में रोजगार संबंधी प्रशिक्षण दिया गया है। इनमें से तकरीबन 68 फीसदी लोगों को पर्यटन क्षेत्र में रोजगार और शेष को प्रायवेट सेक्‍टर में रोजगार मिला है। प्रदेश में निवेश-मित्र पर्यटन नीति लागू की गई है। जल-पर्यटन के क्षेत्र में नई शुरुआत की गई है। हनुवंतिया में इस साल जल-महोत्‍सव 80 दिन का होगा। श्री भौमिक ने आशा व्‍यक्‍त की कि इस सत्र के उपयोगी विमर्श से पर्यटन क्षेत्र को विस्‍तार मिलेगा। निगम की अपर प्रबंध संचालक सुश्री तन्‍वी सुन्द्रियाल ने 'मध्‍यप्रदेश में पर्यटन परिदृश्‍य'' पर प्रेजेंटेशन में बताया कि पर्यटन के क्षेत्र में रोजगार में 13 प्रतिशत ग्रोथ की संभावनाएँ हैं। वर्तमान में पर्यटकों और लोगों का ऑनलाइन बुकिंग के प्रति रुचि और रुझान बढ़ा है। प्रदेश में पर्यटन में निवेश की अच्‍छी संभावनाएँ हैं। उन्‍होंने प्रेजेंटेशन में होटल, हॉस्पिटेलिटी, रेस्‍टॉरेंट, टूर एण्‍ड ट्रेवल और विजन 2020 के लक्ष्‍य और उन्‍हें हासिल करने की रणनीति को रेखांकित किया। उन्‍होंने बताया कि प्रदेश में खुलने वाले नए नेशनल इंस्‍टीट्यूट में पर्यटन विषय पर एमबीए का पाठ्यक्रम भी होगा। महिन्द्रा हॉलिडे एण्ड रिसॉर्ट इंडिया के अध्यक्ष श्री अरुण के. नन्दा ने बताया कि घरेलू पर्यटक प्राय: नजदीकी स्‍थान पर भ्रमण के लिये जाने के इच्‍छुक रहते हैं। इसके लिये मध्‍यप्रदेश के पर्यटन स्‍थल सर्वाधिक उपयुक्‍त हैं। उन्‍होंने कहा कि पर्यटन में रोजगार की काफी गुंजाइश है। अंतर्राष्‍ट्रीय पर्यटन को लेकर भी अच्‍छी खबरें मिल रही हैं। मध्‍यप्रदेश की ‘अतिथि देवो भव:’ की प्राचीन भारतीय परम्‍परा और यहाँ की तहजीब पर्यटकों को आकर्षित करने के लिये पर्याप्‍त है। श्री नन्‍दा ने आर.पी.एल. के जरिये प्रशिक्षण कार्यक्रम में समन्‍वय स्‍थापित करने की जरूरत बताई। इंडियन एसोसिएशन ऑफ टूर ऑपरेटर के उपाध्यक्ष श्री राजीव मेहरा ने कहा कि देश की अर्थ-व्‍यवस्‍था में पर्यटन की अहम भूमिका है। पर्यटन के जरिये रोजगार में लगभग 10 फीसदी का योगदान है। उन्‍होंने कहा कि ट्रेवल टूरिज्‍म में भी अच्‍छी संभावनाएँ हैं। श्री मेहरा ने पर्यटन को कठिन परिश्रम वाला क्षेत्र बताते हुए कहा कि युवाओं को रोजगार के लिये आगे आना चाहिए। होटल एण्ड रेस्टॉरेंट एसोसिएशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया के अध्यक्ष श्री सुमित सूरी ने कहा कि मध्‍यप्रदेश में निवेश के क्षेत्र में अनुकूल वातावरण होने से अच्‍छे निवेशक यहाँ जरूर आएँगे। राज्‍य शासन द्वारा रोजगार के क्षेत्र में अच्‍छी संभावनाएँ और अवसर विकसित कर दिये गये हैं। जरूरत इस बात की है कि इन अवसरों का सही ढंग से लाभ उठाया जाये। श्री सूरी ने कहा कि अच्‍छे मेनपॉवर की जरूरत सभी को रहती है और वे ‘ऑन जॉब ट्रेनिंग’ में हर संभव सहयोग को तत्‍पर हैं। उन्‍होंने कहा कि होटल इंडस्‍ट्री एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें अपेक्षाकृत कम पढ़े-लिखे लोगों के लिये भी रोजगार के अवसर हैं। फेडरेशन ऑफ एसोसिएशन इन इंडिया टूरिज्म एण्ड हॉस्पिटेलिटी के कंसल्‍टेंट सी.ई.ओ. श्री आशीष गुप्‍ता ने अपने प्रेजेंटेशन में मध्‍यप्रदेश में पर्यटन की विशिष्‍ट स्थिति और खूबियों को और अधिक प्रचारित किये जाने की जरूरत बताई। उन्‍होंने कहा कि पर्यटन क्षेत्र में मल्‍टी स्किल प्रतिभाओं की भी आवश्‍यकता है। श्री गुप्‍ता ने पे-टीएम, गूगल ट्रेवल, फेसबुक, एक्‍सपीडिया आदि साधनों की चर्चा करते हुए इनके उपयोग पर जोर दिया। पर्यटन सचिव एवं निगम के एमडी श्री हरि रंजन राव ने प्रदेश की पर्यटन की खूबियों की चर्चा करते हुए कहा कि जल-पर्यटन, होम-स्‍टे और Way Side Amenities आदि क्षेत्रों में नए अवसर उपलब्‍ध करवाए गए हैं। श्री राव ने कहा कि प्रदेश के बघेलखण्‍ड विशेषकर सतना के कुक पूरे देश में जाने जाते हैं। वहाँ के कुक देश भर में काम भी कर रहे हैं। प्रारंभ में श्री राव ने विषय प्रवर्तन किया। निगम के कार्यपालिक निदेशक डॉ. पी.पी.सिंह एवं श्री ओ.वी.चौधरी ने अतिथियों का स्‍वागत किया और उन्‍हें टूरिज्‍म सिग्‍नेचर स्‍टॉल भेंट किये। प्रश्‍नोत्‍तर सत्र में प्रतिभागियों के प्रश्‍नों के समाधानकारी उत्‍तर दिये गये।


aaप्रदेश में जल्द ही सामान्य पाठ्यक्रम के साथ वोकेशनल कोर्स शुरू होंगे


1 Jun 2017

उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने कहा है कि प्रदेश में जल्द ही सामान्य पाठ्यक्रम के साथ वोकेशनल कोर्स शुरू होंगे। इसके लिये अपरान्ह 4 बजे के बाद अलग से क्लासेस लगाई जायेगी। इस प्रोजेक्ट को प्रदेश सरकार जल्द ही लागू करेगी। श्री पवैया वैश्विक कौशल एवं रोजगार भागीदारी समिट-2017 के 'इंप्लायमेंट ओरिएंटेड हायर एजुकेशन इन मध्यप्रदेश' सत्र को संबोधित कर रहे थे। श्री पवैया ने कहा कि रोजगारोन्मुखी शिक्षा की पहल करने वाला मध्यप्रदेश देश में पहला है। उन्होंने कहा कि उद्योग और शिक्षा को एक साथ जोड़कर विमर्श करने का भी यह पहला मौका है। श्री पवैया ने कहा कि सरकार का प्रयास है कि इसी सत्र से परम्परागत पाठ्यक्रम के साथ ही बी.वोक शिक्षा चरणबद्ध तरीके से महाविद्यालयों में शुरू की जा सके। इसके लिये संभागीय स्तर से शुरूआत की जायेगी। श्री पवैया ने कहा कि निजी क्षेत्र के महाविद्यालय और विश्वविद्यालय को सोचना होगा कि उनके नवाचार से विद्यार्थियों को किस प्रकार कौशल युक्त शिक्षा मिल सकती है। उनको प्राथमिकता और बढ़ावा दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि माँ, मातृ भूमि और मातृ भाषा का कोई विकल्प नहीं हो सकता। इसके लिये मानव संसाधन मंत्रालय से बात कर बच्चों को प्राथमिक शिक्षा मातृ भाषा में देने का प्रयास किया जायेगा। प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा श्री आशीष उपाध्याय ने बताया कि पहली बार 22 नये कोर्स इस वर्ष शामिल किये जा रहे हैं जिसमें रोजगार और पढ़ाई एक साथ होगी। उन्होंने कहा कि इस वर्ष 250 महाविद्यालय का नेक में एक्रेडेशन करवाया जायेगा। प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा श्रीमती गौरी सिंह ने बताया कि जेनेरिक केयर में युवा ट्रेंड होकर स्पेशलाइज्ड सेवा दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि वेलनेस को भी फोकस किया जा सकता है। इसमें नॉन एमबीबीएस. होकर भी आयुर्वेद और आयुष के माध्यम से रोजगार प्राप्त कर सकते हैं। महात्मा गाँधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय के प्रो. नरेशचन्द गौतम ने बताया कि उनके विश्वविद्यालय द्वारा 12 हजार 366 विद्यार्थियों को प्रशिक्षित किया गया है। नेशनल लॉ इन्स्टीट्यूट के संचालक प्रो. एस.एस. सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर के संस्थान में भी कौशल की जरूरत पड़ती है। यूजीसी के नोडल अधिकारी प्रो. पी.एन. मिश्रा ने कहा कि स्किल डेवलपमेंट का काम मातृ भाषा में होना चाहिये। उन्होंने बताया कि न्यूट्रीशियन और डाइटीशियन का कोर्स जल्द ही शुरू किया जायेगा। प्राइवेट सेक्टर से श्री टी.आर. कुलकर्णी और सुश्री उमा गणेश ने भी संबोधित किया। संचालन आयुक्त उच्च शिक्षा श्री नीरज मंडलोई ने किया।


aaभोपाल शासकीय मुद्रणालय की पूरी प्रक्रिया करें कम्प्यूटरीकृत


1 Jun 2017

शासकीय मुद्रणालय भोपाल की पूरी प्रक्रिया कम्प्यूटरीकृत करें। प्रिंटिंग के लिये आधुनिकतम मशीनें खरीदें। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने यह निर्देश शासकीय मुद्रणालय के कार्यों की समीक्षा के दौरान दिये। श्री गुप्ता ने कहा कि स्टॉफ को आधुनिक मशीनें चलाने का प्रशिक्षण भी दिलवाया जाये। पुरानी मशीनों का अपलेखन करवायें। कार्यालय में कर्मचारियों की समय पर उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिये बॉयोमेट्रिक मशीनें लगवायें। श्री गुप्ता ने कहा कि विभिन्न विभाग में लंबित देयकों की वसूली के लिये टीम गठित करें। उन्होंने कहा कि ग्वालियर, जबलपुर, इंदौर और रीवा के मुद्रणालय की समीक्षा कर अनुपयोगी स्टॉफ को अन्यत्र स्थानांतरित करें। उन्होंने मुद्रणालय का निरीक्षण कर कार्य-प्रणाली की जानकारी भी ली। बैठक में प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरुण पाण्डेय, नियंत्रक शासकीय मुद्रणालय श्री राजेश कोल उपस्थित थे।


aaभू-संपदा विनियामक अधिनियम की प्रभावी व्यवस्था में "रेरा" उपयोगी होगा


31 May 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि 'रेरा' से नगरों का विकास सुनियोजित होगा। उपभोक्ता हितों का संरक्षण होगा। शिकायतों के समाधान की उपयुक्त व्यवस्था होगी। देश में यह व्यवस्था करने में प्रदेश अग्रणी है। श्री चौहान आज भू-संपदा विनियामक प्राधिकरण रेरा के नवनिर्मित भवन का लोकार्पण कर रहे थे। कार्यक्रम में राज्य उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष श्री राकेश सक्सेना, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, रेरा के सदस्य श्री अनिरुद्ध कपाले, क्रेडाई के प्रतिनिधि, अधिकारी एवं नागरिक उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अपना घर हर व्यक्ति की जिन्दगी का सपना होता है। वह अपने जीवन भर की कमाई उसमें लगा देता है। कई मामलों में उसे समस्याओं का सामना करना पड़ता है। रेरा के गठन से ऐसी सभी समस्याओं का समाधान हो जायेगा। उन्होंने आशा व्यक्त की कि रेरा उपभोक्ता हितों का संरक्षण करेगा। नगर नियोजन की परेशानियाँ खत्म होगी। उन्होंने रियल स्टेट की वास्तविक समस्याओं के समाधान का भी आश्वासन दिया। बताया कि बिल्डरों के साथ भी चर्चा होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण में देश के प्रथम दो नगर मध्यप्रदेश के है। देश के पहले 100 स्वच्छ नगरों में प्रदेश के 22 नगर है। उन्होंने कहा कि प्रक्रियाएँ पारदर्शी हो। नगर स्वच्छ रहे। उनमें शांति रहें। यह सबकी जिम्मेदारी है। स्वच्छ, नियोजित, शांतिपूर्ण शहर, सबको स्नेह और आत्मीयता सरकार की प्राथमिकता है। लेकिन लोगों की जिन्दगी में खलल डालने वाले बर्दाश्त नहीं होंगे। सज्जनों के साथ फूल से कोमल और दुष्टों के साथ वज्र सा कठोर व्यवहार सरकार की नीति रहेगी। शहर की फिजाँ किसी ने खराब़ करने की कोशिश की तो उसे बख्शा नहीं जायेगा। महापौर श्री आलोक शर्मा ने कहा कि मध्यप्रदेश पहला राज्य है जिसने विनियामक अधिनियम को लागू किया है। अब नागरिकों की परिसंपत्ति संबंधी समस्याओं का प्रभावी समाधान होगा। अपने घर का जीवन भर का उनका सपना आसानी से साकार होगा। रेरा के अध्यक्ष श्री डिसा ने अधिनियम क्रियान्वयन में प्रदेश को देश का अग्रणी राज्य बताया। उन्होंने कहा कि संस्था प्रतीक चिन्ह बनाने में भी प्रदेश अव्वल है। कहा कि प्रतीक में रोमन और देवनागरी दोनों लिपियों में नाम शामिल है। प्रतीक, संस्था के प्रमुख तीन उद्देश्य को भी संरक्षित करता है। उन्होंने बताया कि शीघ्र ही अधिनियम के स्टेक होल्डरों की कान्फ्रेंस भी की जायेगी। आभार प्रदर्शन रेरा सदस्य श्री दिनेश नायक ने किया।


aaसभी के सहयोग से प्रदेश को ग्रामीण विकास में अव्वल लाने का लक्ष्य


31 May 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पं. दीनदयाल उपाध्याय शताब्दी वर्ष में सरकार जनता की मूलभूत आवश्यकताओं रोटी, कपड़ा, मकान, पढा़ई-लिखाई और दवाई की समुचित व्यवस्था करने के लिये प्रतिबद्ध है। श्री चौहान आज सीहोर जिले के ग्राम अहमदपुर में 'ग्रामोदय से भारत उदय' अभियान के समापन पर आम सभा को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर पंचायत और ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव, लोक निर्माण और सीहोर जिले के प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह, विधायक श्री सुदेश राय, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती संध्या मरेठा, अपर मुख्य सचिव श्री आर.एस.जुलानिया और बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे। श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश को ग्राम विकास के क्षेत्र में देश में नम्बर एक पर लाने के लिये सभी का सहयोग जरूरी है। सरपंच- पंचों को अपने अधिकारों के साथ साथ अपने कर्त्तव्यों का भी निष्ठापूर्वक पालन करना चाहिए। श्री चौहान ने ग्रामोदय अभियान के समापन पर ग्रामीणों को संकल्प दिलाया कि वे अपने गाँव में साफ-सफाई, वृक्षारोपण जैसे जनहित के कार्यों पर विशेष ध्यान देंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश की 22 हजार 805ग्राम पंचायतों में आयोजित ग्राम संसदों में 25 लाख 70 हजार आवेदन व्यक्तिगत मांग तथा 3 लाख 33 हजार आवेदन सामुदायिक कार्य से संबंधित प्राप्त हुए। ग्राम पंचायतवार आवेदनों का परीक्षण किया जा रहा है। एक जून से दस जून तक प्रत्येक ग्राम पंचायत में अधिकारी जाकर ग्रामीणों को उनके आवेदनों पर हुई कार्रवाई का ब्यौरा देंगे। सभी जिलों में प्रभारी मंत्री आवेदनों पर हुई कार्रवाई का 5 जून से औचक निरीक्षण भी करेंगें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में चालू वित्त वर्ष के दौरान 7 लाख पात्र गरीब ग्रामीणों को मकान बनाने के लिये राशि उपलब्ध कराई जा रही है । लक्ष्य है कि वर्ष 2022 तक कोई भी पात्र व्यक्ति आवासहीन न रहे। मकान बनाने का पैसा सीधे हितग्राही के खाते में जमा किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने घोषणा की कि विभिन्न आवास योजनाओं में मकान बनाने वाले हितग्राही यदि मकान के परिसर में पाँच फलदार पेड़ लगाते हैं, तो उन्हें पाँच हजार रूपये अतिरिक्त दिये जायेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्रामीण क्षेत्र में चलाये जा रहे विकास कार्यों के संबंध में कहा कि अब छोटे-मोटे कार्यों के लिये ग्राम पंचायतों को अधिकार सम्पन्न कर दिया गया है। ग्राम पंचायतों को 2 लाख रूपये लागत से नल-जल योजनाएँ सुधरवाने के अधिकार दे दिए गए हैं । सरपंचों को ग्राम सचिवों की सी.आर.लिखने के अधिकार दिये गये हैं। श्री चौहान ने स्पष्ट किया कि जहाँ एक ओर सरकार अच्छा कार्य करने वाले सरपंचों को पुरूस्कार देगी, वहीं सामुदायिक विकास या गरीब व्यक्ति के हित लाभ से जुड़ी योजनाओं में गड़बड़ी करने वाले पंच-सरपंचों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई भी की जायेगी। उन्होंने कहा कि अब अविवादित नामांतरण के अधिकार भी ग्राम पंचायतों को विकेन्द्रित कर दिये गये हैं। 7 हजार ग्राम पंचायत, 46 जनपद और 6 जिले ओ.डी.एफ घोषित श्री चौहान ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन में अभी तक प्रदेश के सात हजार ग्राम पंचायतों, 46 जनपद पंचायतों सहित छ: जिले ओ.डी.एफ.घोषित किए जा चुके हैं। स्वच्छ भारत मिशन में ग्राम पंचायतों की सक्रिय भूमिका और ग्रामवासियों में जागरूकता को देखते हुए पूरे प्रदेश को इस वर्ष गांधी जयंती तक ओ.डी.एफ. करने का लक्ष्य है। इस अवसर पर उन्होंने सीहोर सहित भोपाल, बुरहानपुर, आगर-मालवा, नीमच और खरगोन जिलों को ओ.डी.एफ.घोषित किया। पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि ग्राम उदय से भारत उदय अभियान 15 अप्रैल से प्रारंभ होकर 31 मई को समापन हो रहा है। सभी 52 हजार गांवों में ग्रामसभा और ग्राम संसद के माध्यम से हितग्राहीमूलक योजनाओं, सार्वजनिक कार्यक्रमों का माननीय मुख्यमंत्री समग्र रूप से विचार कर निर्णय करने वाले हैं। 'ग्रामोदय से भारत उदय' में आम लोगों और किसानों को योजनाओं का लाभ लेने के लिये शहरों के चक्कर न लगाने पड़े, इसके लिए उनके ग्राम में जाकर प्रशासन सरकार की योजनाओं और हितग्राही लाभ योजनाओं की सूची में उन्हें जोड़ा जा रहा है। श्री भार्गव ने कहा प्रदेश में रोटी, कपड़ा, मकान की कोई समस्या नहीं रहेगी। प्रधानमंत्री आवास योजना में प्रत्येक गरीब को मकान मिलेंगे। प्रदेश में कोई बिना मकान/जमीन के नहीं रहेगा। श्री भार्गव ने कहा कि ग्रामोदय से भारत उदय अभियान मील का पत्थर साबित होगा। श्री भार्गव ने कहा कि आम जन अपने हितों के प्रति जागरूक रहें, सरकार उनके हित संरक्षण के लिये सदा आगे है। आभार प्रदर्शन लोक निर्माण और सीहोर जिले के प्रभारी मंत्री श्री रामपाल सिंह ने किया। उन्होंने कहा कि कल रात को तेज बारिश होने से कार्यक्रम के होने में ही संदेह होने लगा था किन्तु मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम को हर हालत में करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान, मंत्रीद्वय श्री गोपाल भार्गव, श्री रामपाल सिंह ने मण्डी परिसर में वृक्षारोपण किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम में विभिन्न योजनाओं के लाभांवितों को चेक वितरित किए। प्रारंभ में सीहोर कलेक्टर श्री सुदाम खाडे ने बताया कि अभियान के दौरान सीहोर जिले में 32 हजार 310 आवेदन विभिन्न मांगों के संबंध में प्राप्त हुए थे । इनमें से 20 हजार 606 आवेदन स्वीकृत कर उन पर कार्रवाई की जा रही है। ग्रामीणों को उनके द्वारा दिये गये आवेदनों पर की गई कार्रवाई से अवगत कराने के लिये ग्राम पंचायत स्तर पर जानकारी देने की व्यवस्था की गई है।


aaजी.एस.टी. में प्रदेश के हितों का रखा गया है ख्याल


31 May 2017

वित्त एवं वाणिज्यिक कर मंत्री श्री जयंत मलैया ने कहा है कि वस्तु एवं सेवा कर (जी.एस.टी.) में प्रदेश के हितों का पूरा-पूरा ख्याल रखा गया है। एक जुलाई से लागू होने वाले जी.एस.टी. के लिये प्रदेश में सभी आवश्यक तैयारियाँ कर ली गई हैं। उन्होंने कहा कि आजादी के 70 साल बाद आर्थिक क्षेत्र में जी.एस.टी. कानून सबसे बड़ा बदलाव है। श्री मलैया ने कहा कि जी.एस.टी. देश के संघीय ढाँचे का सबसे बेहतर उदाहरण है। वित्त मंत्री श्री मलैया आज भोपाल के रवीन्द्र भवन में जी.एस.टी. पर हुए सेमीनार को संबोधित कर रहे थे। सेमीनार में प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर श्री मनोज श्रीवास्तव, आयुक्त वाणिज्यिक कर श्री राघवेन्द्र सिंह और कर सलाहकार मौजूद थे। वित्त मंत्री श्री मलैया ने कहा कि जी.एस.टी. में पिछले 17 वर्ष में लम्बी चर्चा हुई है। अब तक लिये गये निर्णय सर्वसम्मति से ही हुए हैं। जी.एस.टी. काउंसिल में केन्द्र और राज्य सरकार के प्रतिनिधियों ने आम जनता के हितों का ख्याल रखते हुए निर्णय लिये हैं। उन्होंने कहा िक जी.एस.टी. से महँगाई नहीं बढ़ेगी। जी.एस.टी. में कर की दरें तय करते समय वस्तुओं को अलग-अलग वर्गों में बाँटा गया है। वित्त मंत्री ने कहा कि जी.एस.टी. से कर व्यवस्था का सरलीकरण होगा और करों में होने वाली चोरी को पूरी तरह से रोका जा सकेगा। प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर श्री मनोज श्रीवास्तव ने कहा कि किसी भी देश की व्यवस्था को वहाँ की कर प्रणाली काफी हद तक प्रभावित करती है। इसके उदाहरण इतिहास में देखे जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि एक-देश एक कर व्यवस्था से देश में तरक्की की रफ्तार और तेज होगी। आयुक्त वाणिज्यिक कर श्री राघवेन्द्र सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश में जी.एस.टी. को समझने के लिये प्रदेश के छोटे-छोटे स्थानों पर सेमीनार हुए हैं। उन्होंने कहा कि जी.एस.टी. को प्रत्येक व्यवसायी समझे और इसकी जानकारी आम जनता को दी जाये। सेमीनार को श्री अनूप श्रीवास्तव, एडिशनल कमिश्नर कस्टम श्री आर.एस. माहेश्वरी, सी.ए. श्री एस.कृष्णन ने भी संबोधित किया।


aaनगरीय निकायों में करों में छूट संबंधी नेशनल लोक अदालत 8 जुलाई को


30 May 2017

राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली के निर्देश पर मध्यप्रदेश में आगामी 8 जुलाई को नेशनल लोक अदालत होगी। इसमें प्रदेश के नगरीय निकायों में लम्बित विभिन्न कर में छूट प्रदान करने संबंधी कार्यवाही की जायेगी। मध्यप्रदेश नगर पालिक निगम अधिनियम-1956 की धारा-162 एवं 163 तथा मध्यप्रदेश नगरपालिका अधिनियम 1961 की धारा 130, 131, तथा 132 में निहित शक्तियों को उपयोग में लाते हुए राज्य शासन द्वारा सम्पत्ति कर अधिभार, जल उपभोक्ता प्रभार में शर्तों के अधीन छूट प्रदान की जायेगी। छूट उन निकायों में प्रभावशील नहीं होगी, जहाँ निकाय निर्वाचन की प्रक्रिया प्रारंभ है।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान 31 मई को करेंगे रेरा भवन का लोकार्पण


30 May 2017

मध्यप्रदेश रियल एस्टेट रेग्युलेटरी अथॉरिटी (भू-सम्पदा विनियामक प्राधिकरण, मध्यप्रदेश के नए 'रेरा भवन' का लोकार्पण 31 मई को प्रात: 11 बजे मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान शौर्य स्मारक गेट क्र. 3 के सामने करेंगे। इस अवसर पर नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह तथा म.प्र. भू-संपदा विनियामक प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री अन्टोनी डि सा उपस्थित रहेंगे। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है, जिसमें रियल एस्टेट रेग्युलेटरी अथॉरिटी का गठन हुआ तथा पूरे प्रदेश में एक मई से यह प्रभावशील हो गया है। एक्ट के जरिये रियल एस्टेट सेक्टर को व्यवस्थित और उपभोक्ताओं के हितों की दृष्टि से और पारदर्शी तथा जिम्मेदार बनाया जायेगा। रियल एस्टेट रेग्युलेटरी अथॉरिटी की परिधि में वे परियोजनाएँ आयेंगी जो भविष्य में निर्मित होना प्रस्तावित है या फिर 30 अप्रैल 2017 को अपूर्ण थी, अर्थात जिनका पूर्णता प्रमाण-पत्र नगर निगम द्वारा जारी नहीं किया गया हो।


aaप्रतिनियुक्ति पर पदस्थ शिक्षकों की सेवाएँ वापस लेने के निर्देश जारी


30 May 2017

राज्य शासन द्वारा स्कूल शिक्षा विभाग के शिक्षकीय एवं गैर-शिक्षकीय अधिकारी-कर्मचारी, जो अन्य विभाग में प्रतिनियुक्ति पर पदस्थ हैं तथा उनकी प्रतिनियुक्ति अवधि समाप्त हो गयी है, की सेवाएँ तत्काल प्रभाव से वापस ले ली गयी हैं। यह आदेश स्कूल शिक्षा विभाग के नियंत्रणाधीन निगम/मण्डल में प्रतिनियुक्ति पर पदस्थ अधिकारी-कर्मचारी पर लागू नहीं होगा। विभाग के विभिन्न कार्यालय में संलग्न अधिकारी-कर्मचारी को अपनी मूल संस्था/कार्यालय में 31 मई तक उपस्थिति देने के निर्देश भी दिये गये हैं। ऐसे अधिकारियों-कर्मचारियों का वेतन उनकी मूल संस्था में उपस्थित होने के बाद ही आहरित किया जायेगा। ऐसा नहीं होने पर संबंधित आहरण-संवितरण अधिकारी की जिम्मेदारी तय की जायेगी और इसकी वसूली उनके वेतन से की जायेगी।


aaमध्यप्रदेश भवन मुंबई में शासन की गतिविधियों का बनेगा केन्द्र


29 May 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह ने नवी मुंबई वाशी में मध्यप्रदेश भवन मध्यालोक के निर्माण कार्य का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने आशा व्यक्त की कि मध्यालोक का उपयोग मध्यप्रदेश शासन के अतिथियों तथा विभिन्न-गतिविधियों के लिये किया जायेगा। नवी मुंबई वाशी के सेक्टर 30 ए, में मध्यप्रेदश शासन के अतिथि गृह का निर्माण कार्य लगभग पूरा होने जा रहा है। इससे मुंबई में मध्यप्रदेश के अतिथियों, जन-प्रतिनिधियों, अधिकारियों तथा इलाज के लिये आने वाले मरीजों के लिये आवास तथा विश्राम की संपूर्ण व्यवस्था हो सकेगी। मध्यालोक का निर्माण सितम्बर 2013 में शुरू किया गया था। इसका कुल क्षेत्रफल 3879 वर्ग मीटर है तथा इसमें लगभग 30 कक्ष रहेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान कहा कि भवन निर्माण पूरा होने के पश्चात मुंबई स्थित मध्यप्रदेश शासन के सभी कार्यालय जैसे मध्यप्रदेश सूचना केन्द्र, मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम, मध्यप्रेदश हस्तशिल्प विकास निगम का एम्पोरियम, मध्यालोक में समाहित किये जायेंगे। मध्यप्रदेश से संबद्ध सभी जानकारी एक ही जगह उपलब्ध हो सकेगी। इससे मध्यप्रदेश के सभी कार्यालयों में आपस में बेहतर समन्वय स्थापित हो सकेगा, जिसका लाभ शासन के साथ आम-जन को भी प्राप्त हो सकेगा। उन्होंने कहा कि मध्यालोक बहुत ही उपयोगी और लाभप्रद सिद्ध होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मुंबई प्रवास में स्थानीय पत्रकारों से भी अनौपचारिक भेंट की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के 3 साल पूर्ण होने के साथ अनेक महत्वपूर्ण रिकार्ड भी स्थापित हुए हैं। जनता एक नई ऊर्जा का अनुभव कर रही है। नर्मदा सेवा यात्रा के संदर्भ में उन्होंने कहा कि कल्पना के परे नर्मदा परिक्रमा में जन-भगीदारी तथा स्थानीय लोगों का स्व-स्फूर्त सहयोग देखकर वे बहुत अचंभित हैं और विश्वास है कि नर्मदा मिशन द्वारा उठाये गये 12 मुद्दों की संकल्पना अवश्य पूरी होगी। नर्मदा संरक्षण के लिए लगभग 6 करोड़ वृक्षारोपण 2 जुलाई 2017 को नर्मदा के दोनों किनारों पर जन-भागीदारी और स्थानीय सहयोग से किया जायेगा। उन्होंने मुंबईवासियों और पत्रकारों से अपेक्षा की है कि वे भी वृक्षारोपण के कार्यक्रम में शामिल हो और स्वयं आकर अनुभव करें। मुख्यमंत्री ने मध्यालोक संबंधी प्रत्यक्षिका भी देखी। साथही संपूर्ण भवन का निरीक्षण कर अपने सुझाव भी दिये। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री एस.के. मिश्रा, मध्यप्रदेश भवन दिल्ली और मुंबई के आवासीय आयुक्त श्री आशीष श्रीवास्तव के साथ राज्य शासन मुंबई के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे


aaखेल भावना से कायम होती है समाजिक समरस्ता


29 May 2017

वाणिज्य, उद्योग एवं रोजगार तथा खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा है कि खेल भावना से जहाँ समाजिक समरस्ता कायम होती है, वहीं प्रतिभाओं को आगे आने का मौका भी मिलता है। श्री शुक्ल रविवार को रीवा में सिंधु प्रीमियम लीग क्रिकेट मैच का शुभारंभ समारोह को संबोधित कर रहे थे। प्रतियोगिता में 16 टीमें भाग ले रही हैं। श्री शुक्ल ने कहा कि खिलाड़ी को हार-जीत की परवाह न करते हुए खेल भावना के साथ हमेशा खेलते रहना चाहिये। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के आयोजन विभिन्न धर्म एवं समाज को जोड़ने का काम करते हैं। उद्योग मंत्री ने कहा कि एक अच्छा उदाहरण है इस प्रकार के आयोजन समय-समय पर करने की आवश्यकता है। उद्योग मंत्री श्री शुक्ल ने खिलाड़ियों का सम्मान भी किया इसके बाद उन्होंने खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त करते हुए उन्होंने खेल में अच्छा प्रदर्शन करने की शुभकामनाएँ दी। श्री शुक्ल ने प्रतियोगिता का पहली बॉल में शानदार शॉट लगाते हुए शुभारंभ किया। इस अवसर पर पूज्य सिंधी पंचायत के अध्यक्ष श्री संतरामदास कृष्णानी सहित आयोजन समिति के सदस्य तथा जन-प्रतिनिधि मौजूद थे।


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने काटजू और जे.पी. हास्पिटल में सुनी मरीजों की समस्याएँ


29 May 2017

राजस्व, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने सोमवार को सुबह काटजू और जे.पी. हास्पिटल में मरीजों की समस्याएँ सुनी। श्री गुप्ता ने कहा कि अस्पताल की समस्याओं के निराकरण के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री के साथ बैठक करेंगे। श्री गुप्ता ने जे. पी. हास्पिटल में पार्किंग शुल्क नगर निगम द्वारा निर्धारित दर अनुसार लेने के लिए कार्यवाही करने के निर्देश दिये। मरीजों ने अधिक शुल्क बसूलने की शिकायत की थी। उन्होंने काटजू हास्पिटल में विद्युत व्यवस्था ठीक करवाने के निर्देश दिये।


aaप्रत्येक गरीब के पक्के मकान का सपना अब होगा साकार


27 May 2017

जनसंपर्क, जल-संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज दतिया जिले के ग्राम कुरथरा में पं. दीनदयाल कार्य विस्तार योजना तथा ग्राम सम्पर्क योजना के तहत् भ्रमण किया। उन्होंने घर-घर जाकर लोगों से सम्पर्क किया और पं. दीनदयाल उपाध्याय के व्यक्त्तिव, कृतित्व तथा गरीबों के प्रति सोच की जानकारी दी। उन्होंने एक समारोह में प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों को स्वीकृति-पत्र वितरित किये तथा चार हितग्राहियों को पक्के आवास बन जाने के उपरांत चॉबियां सौंपी। उन्होंने कहा कि प्रत्येक गरीब के पक्के मकान का सपना अब होगा साकार, इसके लिए सरकार निरंतर प्रयत्नशील है। डॉ. मिश्र ने तीन लाख रुपये की सी.सी. रोड का भूमि-पूजन भी किया। जनसंपर्क मंत्री ने कहा कि प्रदेश के हर गरीब का पक्का आवास होगा। इस संकल्प को सार्थक करने के लिए हम निरंतर प्रयत्नशील है। उन्होंने कहा कि बारी-बारी से तीन वर्ष में सभी गरीबों को प्रधानमंत्री आवास योजना के मकान स्वीकृत किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार एक रुपये किलो गेहूँ, चावल और नमक दे रही है। बच्चों को निःशुल्क शिक्षा, पुस्तकें, यूनिफार्म तथा साईकिल दी जा रही हैं। बारहवीं कक्षा में 75 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थी की पढ़ाई का खर्च अब मध्यप्रदेश सरकार की जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि 71 ग्राम के लिए नल-जल योजना तैयार की गई है। योजना अगले महीने से प्रारंभ हो जाएगी। हर घर में नियमित रूप से जल प्रदाय किया जायेगा। जनसंपर्क मंत्री ने मानसिक दिव्यांग श्री रविन्द्र अहिरवार को 500 रुपये की प्रतिमाह पेंशन मौके पर ही स्वीकृत करवाई तथा 10 पेंशन प्रकरण भी स्वीकृत किए। इस अवसर पर मध्यप्रदेश पाठ्य पुस्तक निगम के उपाध्यक्ष श्री अवधेश नायक सहित जन-प्रतिनिधि तथा गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।


aaहोनहार बच्चों की पढ़ाई की जिम्मेदारी सरकार की


27 May 2017

जनसंपर्क, जल-संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया जिले के चिरूला में पंड़ित दीनदयाल कार्य विस्तार योजना तथा ग्राम सम्पर्क अभियान के तहत् स्थानीय जन से भेंट की। उन्होंने कहा कि गरीब आदमी अक्‍सर यह कहते हुए सुना जाता था कि हमारा बच्चा तो होनहार है किन्तु हम मेडिकल कॉलेज और इंजीनियरिंग की फीस न भर पाने के कारण उसे आगे पढ़ा नहीं पा रहे है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश शासन ने निर्णय लिया है कि यदि विद्यार्थी 75 प्रतिशत से अधिक अंक 12वीं कक्षा में लाता है तो माता-पिता किसी भी कॉलेज, संस्था और डिग्री में दाखिला कराए, फीस सरकार भरेगी। अब बच्चों की पढ़ाई की चिन्ता सरकार की है। डॉ. मिश्र ने कहा कि सरकार द्वारा गरीबों को एक रुपये किलो गेहूँ, नमक, चावल प्रदान किया जा रहा है। यह केवल मध्यप्रदेश सरकार और मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की सोच का ही परिणाम है कि नागरिकों को इतने कम दामों में खाद्यान्न दिया जा रहा है। जनसंपर्क मंत्री ने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान की जानकारी देते हुए कहा कि बेटियों को खूब पढ़ाये और आगे बढ़ायें। जन्म से लेकर विवाह तक की चिन्ता मध्यप्रदेश सरकार की है। उन्होंने दो प्रकरण में 20-20 हजार रूपये की राष्ट्रीय परिवार सहायता की राशि वितरित की। स्थानीयजन की माँग पर पाँच लाख रुपये लागत के अम्बेडकर भवन के निर्माण की घोषणा भी की। इससे पहले जनसंपर्क मंत्री के चिरूला पहुँचने पर ग्रामीणों ने स्वागत किया। इस अवसर पर दतिया के नगर पालिका अध्यक्ष श्री सुभाष अग्रवाल, जिला पंचायत के उपाध्यक्ष श्री विनय यादव सहित अन्य जनप्रतिनिधि व गणमान्यजन उपस्थित रहे।


aaदमोह की 300 करोड़ की योजना से 40 गाँव में होगी सिंचाईं


27 May 2017

वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया ने कहा है कि मध्यप्रदेश में पिछले 13 साल में सिंचाई के क्षेत्र में उल्लेखनीय काम हुआ है। दमोह की 300 करोड़ लागत की सतधरू योजना से 40 गाँव में सिंचाई हो सकेगी। उन्होंने किसानों से परम्परागत दो फसल के साथ-साथ तीसरी फसल लेने के लिये भी कहा। वित्त मंत्री शुक्रवार को दमोह विकासखंड के जनसंपर्क अभियान में ग्राम जोरतला में ग्रामीणों को संबोधित कर रहे थे। श्री मलैया ने कहा कि आगामी 7 जून को दमोह में जिला-स्तरीय कृषि मेला होने जा रहा है। इसमें किसानों को खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिये उपयोगी जानकारी दी जायेगी। उन्होंने पीएचई के अधिकारियों को पेयजल संकटग्रस्त गाँव में परिवहन से पानी पहुँचाने के निर्देश भी दिये। श्री मलैया ने ग्राम टोरी और पटना-बुजुर्ग में 10-10 लाख रूपये लागत के सामुदायिक भवन बनवाने की घोषणा की। उन्होंने ग्राम अर्थखेड़ा में ग्रामीणों को प्रधानमंत्री आवास योजना की जानकारी दी तथा कहा कि प्रदेश में वर्ष 2022 तक हर पात्र व्यक्ति को आवास दिलाया जायेगा। श्री मलैया ने ग्राम अर्थखेड़ा से धमाटा तक सड़क निर्माण के लिये 35 लाख रूपये दिये जाने की भी घोषणा की। उन्होंने ग्रामीण युवाओं से आत्मनिर्भर बनने के लिये कौशल विकास प्रशिक्षण योजना में प्रशिक्षण लेने की बात कही। प्रतिभाशाली छात्र को नगद पुरस्कार श्री मलैया ने ग्राम जोरतला में प्रतिभाशाली छात्र श्री ऋषि लोधी को 11 हजार रूपये नगद पुरस्कार के रूप में दिये। श्री ऋषि ने कक्षा 10 की बोर्ड परीक्षा में 94 प्रतिशत अंक प्राप्त किये हैं। श्री मलैया ने कहा कि प्रतिभाशाली बच्चों को उच्च अध्ययन के लिये राज्य सरकार की ओर से आर्थिक सहायता दी जायेगी।


aaपौधरोपण की जानकारी जन-जन तक पहुँचायें


26 May 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जुलाई में होने वाले पौधरोपण कार्यक्रम की जानकारी जन-जन तक पहुँचाई जायें। उन्होंने जन अभियान परिषद के सदस्यों से कहा कि स्वयंसेवकों के पंजीयन के लिए अभियान स्तर पर कार्रवाई करें। श्री चौहान आज जन अभियान परिषद के राज्य कार्यालय में जिला, संभाग समन्वयकों एवं टॉस्क मैनेजर की बैठक को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार और खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वृक्षारोपण के लिये पंजीयन का कार्य युद्ध स्तर पर किया जाये। उसे व्यापक स्तर पर प्रसारित करने के लिये नियोजित तरीकों के साथ प्रयास किये जायें। संबंधित शासकीय विभागों के साथ भी समन्वय किया जायें। जन जुड़ जायेगा तो कार्य की सफलता सुनिश्चित है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण दिवस 5 जून से वृक्षारोपण के लिए लोगों को जोड़ने का अभियान शुरू होगा। इसके पूर्व सभी आवश्यक तैयारियाँ, धार्मिक, सामाजिक संगठनों, व्यक्तियों और जनप्रतिनिधियों के साथ समन्वय और सम्पर्क का कार्य किया जाये। श्री चौहान ने नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान संगठन की संकल्पबद्धता, परिश्रम और समर्पण की प्रशंसा की तथा कहा कि संगठन की देश में अलग पहचान बनी है। उन्होंने कहा कि सेवा यात्रा के बाद पर्यावरण जनचेतना के वातावरण को बनाए रखना जरूरी है। घाटों की देख-रेख, स्वच्छता और पूजन संबंधी जिम्मेदारियों में नर्मदा सेवा समिति के सदस्यों की सक्रियता बनी रहनी चाहिए। उन्होंने नई प्रस्फुटन समितियों के गठन की आवश्यकता बताई। नवांकुर समितियों की क्रियाशीलता को बढ़ाने को कहा। उन्होंने आदि गुरूशंकराचार्य की प्रतिमा के लिए धातु संग्रहण अभियान के विषय में बताते हुये कहा कि अभियान का मुख्य उद्देश्य आदिगुरू और उनके दर्शन को गांव-गांव, घर-घर पहुँचाना है। इस संबंध में आचार्य सभा के साथ समन्वय कर कार्ययोजना निर्माण में सहयोग करने की अपेक्षा की। जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पान्डे ने अभियान की गतिविधियों और आवश्यकताओं की जानकारी दी। उपाध्यक्ष श्री राघवेन्द्र गौतम ने आभार माना।


aaसंकुल से संभाग-स्तर 15 जुलाई से 30 सितम्बर तक होगा "स्कूल ओलम्पियाड


26 May 2017

ग्रामीण अंचलों में छुपी खेल-प्रतिभाओं को सामने लाने के लिये संकुल से संभाग-स्तर तक 15 जुलाई से 30 सितम्बर के बीच 'स्कूल ओलम्पियाड'' होगा। राज्य-स्तर पर स्कूल ओलम्पियाड अक्टूबर-2017 में करवाया जायेगा। ओलम्पियाड में खो-खो, कबड्डी, शतरंज, व्हाली-बॉल, रोप-स्कीपिंग और एथेलेटिक्स प्रतियोगिताएँ होंगी। तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), श्रम एवं स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी की अध्यक्षता में हुई मध्यप्रदेश शालेय खेलों के उन्नयन एवं प्रगति के लिये गठित तकनीकी सलाहकार समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया। श्री जोशी ने कहा कि स्कूलों में भी वही खेल खिलाये जायें, जो नेशनल और इंटरनेशनल लेवल पर होते हैं। उन्होंने कहा कि स्कूल ओलम्पियाड में तैराकी को भी जोड़ा जा सकता है। श्री जोशी ने कहा कि स्कूलों में स्पोर्ट कल्चर विकसित करने के हरसंभव प्रयास होने चाहिये। उन्होंने कहा कि व्यायाम शिक्षकों की सेवाएँ खेल प्रशिक्षण में भी ली जायें। विभिन्न विभाग से सेवानिवृत्त खेल प्रशिक्षकों को भी अतिथि शिक्षक के रूप में रखने पर विचार किया जाये। श्री जोशी ने कहा कि संभाग और जिला-स्तर पर खेल समिति बनायें। समिति में स्थानीय खिलाड़ियों को रखा जाये। स्कूलों में खरीदी जाने वाली खेल सामग्री के लिये मानदण्ड निर्धारित किये जायें। उन्होंने कहा कि भोपाल की खेल अकादमी में पढ़ने वाले बच्चों के लिये सरकारी स्कूल में अलग से क्लास की व्यवस्था की जाये। राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में पदक प्राप्त खिलाड़ियों को प्रोत्साहन राशि देने के लिये राज्य-स्तरीय सम्मान समारोह किया जाये। खिलाड़ियों के दैनिक भत्ते और पदक प्राप्त खिलाड़ियों को दिये जाने वाली प्रोत्साहन राशि में बढ़ोत्तरी के संबंध में भी चर्चा की गयी। प्रदेश को 264 मेडल बैठक में सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती दीप्ति गौड़ मुखर्जी ने बताया कि वर्ष 2016-17 में 62वीं राष्ट्रीय शालेय क्रीड़ा प्रतियोगिता में प्रदेश को 264 मेडल प्राप्त हुए। देश की पदक-तालिका में मध्यप्रदेश को चौथा स्थान मिला। वर्ष 2017-18 के लिये खेल कैलेण्डर का प्रारूप तैयार किया गया है। इस वर्ष 22 खेल की राष्ट्रीय प्रतियोगिता करवाये जाने का प्रस्ताव है। बैठक में आयुक्त स्कूल शिक्षा श्री नीरज दुबे, संचालक श्रीमती अंजू भदौरिया एवं समिति के सदस्यों ने महत्वपूर्ण सुझाव दिये।


aaशौर्य स्मारक में 28 मई को अन्नू कपूर गायेंगे देशभक्ति के गीत


26 May 2017

प्रख्यात अभिनेता, गायक एवं एंकर श्री अन्नू कपूर एवं उनके दल द्वारा शौर्य स्मारक, अरेरा हिल्स में देशभक्ति के गीतों की सांगीतिक प्रस्तुति दी जायेगी। संस्कृति विभाग के संयोजन में क्रांतिवीरों एवं अमर शहीदों की याद में 'एक शाम शहीदों के नाम' कार्यक्रम में मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह, सैन्य अधिकारी और सैनिक उपस्थित रहेंगे।


aaदेवास और उज्जैन जिले में विकसित हो रहे है दो नये औद्योगिक क्षेत्र


25 May 2017

देवास और उज्जैन जिले में 2 नवीन औद्योगिक क्षेत्र विकसित किये जा रहे है। इन औद्योगिक क्षेत्रों में भू-खण्ड आवंटन ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से किया जा रहा है। साथ ही इंदौर एयरपोर्ट से पीथमपुर इकनॉमिक कॉरीडोर भी विकसित किया जा रहा है। वाणिज्य एवं उद्योग विभाग द्वारा नवीन औद्योगिक क्षेत्र में बुनियादी सुविधाओं के कार्य तेजी से करवाये जा रहे है। देवास जिले में ग्राम सिरसौदा में नवीन औद्योगिक क्षेत्र का विकास 49.86 हेक्टेयर भूमि पर किया जा रहा है। यह क्षेत्र भोपाल-देवास फोरलेन सड़क पर सोनकच्छ से 6 किलोमीटर की दूरी पर विकसित किया जा रहा है। इस क्षेत्र में सड़क, बिजली एवं जल-प्रदाय संबंधी विकास कार्य 12 करोड़ की लागत से किये जा रहे हैं। क्षेत्र में 33/11 के.व्ही. विद्युत फीडर का निर्माण पूरा तथा जल-प्रदाय टंकियाँ तैयार की जा चुकी है। आंतरिक एवं बाहरी सड़कों का निर्माण कार्य तेजी से किया जा रहा है। क्षेत्र में 25 औद्योगिक इकाइयों के लिये 7.79 हेक्टेयर भूमि पर भू-खण्ड उपलब्ध है। उज्जैन जिले के ताजपुर में नवीन औद्योगिक क्षेत्र 74.84 हेक्टेयर भूमि पर किया जा रहा है। यह क्षेत्र उज्जैन मक्सी टू लेन सड़क पर तहसील ताजपुर से 4 किलोमीटर की दूरी पर है। औद्योगिक क्षेत्र में सड़क, बिजली और जल-प्रदाय व्यवस्था संबंधी विकास कार्य 40 करोड़ रुपये की लागत से करवाये जा रहे हैं। क्षेत्र में 178 औद्योगिक भू-खण्ड करीब 27 हेक्टेयर भूमि पर उपलब्ध है। औद्योगिक इकाइयों के लिये भूमि आवंटन ऑनलाइन किया जा रहा है। पीथमपुर इकनॉमिक कॉरीडोर इंदौर एयरपोर्ट से पीथमपुर एस.ई. जेड.(स्पेशल इकनॉमिक जोन) तक 20 किलोमीटर लम्बाई में 18 गाँव में से इकनॉमिक कॉरीडोर प्लानिंग किया गया है। यहाँ 75 मीटर चौड़े मार्ग के दोनों ओर 300 मीटर क्षेत्र की भूमि को योजना में शामिल किया गया है। इसमें आई.टी., टूरिज्म, रिक्रेशिएनल व्यवसायिक, औद्योगिक (नॉन पाल्यूटिंग) गतिविधियाँ संचालित की जायेगी। एयरपोर्ट से पीथमपुर इकनॉमिक कॉरीडोर का विकास इंदौर विकास प्राधिकरण के माध्यम से किया जा रहा। कॉरीडोर बनने पर यहॉ औद्योगिक गतिविधियों में और तेजी आयेंगी।


aaकौशल विकास में उत्कृष्ट प्रदर्शन पर मिलेगा मुख्यमंत्री कौशल उत्कृष्टता पुरस्कार


25 May 2017

कौशल विकास के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन पर मुख्यमंत्री कौशल उत्कृष्टता पुरस्कार से नवाजा जायेगा। कुल 82 अधिकारी-कर्मचारी को 13 लाख 5 हजार रुपये के पुरस्कार दिये जायेंगे। पुरस्कार योजना का उद्देश्य कौशल विकास योजनाओं के गुणात्मक एवं सकारात्मक परिणाम में वृद्धि के लिये अधिकारियों/ कर्मचारियों को प्रोत्साहित करना है। मुख्य रूप से 'रोजगार की पढ़ाई-चलें आई.टी.आई.', मुख्यमंत्री कौशल संवर्धन एवं कौशल्या योजना के क्रियान्वयन और युवाओं के प्लेसमेंट के लिए बेहतर कार्य करना चयन के मुख्य आधार होंगे। 2 कमिश्नर और 10 कलेक्टर भी होंगे पुरस्कृत तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने बताया कि 2 कमिश्नर, 10 कलेक्टर, 3 जिला शिक्षा अधिकारी/ सहायक आयुक्त आदिवासी विकास, 2 संयुक्त संचालक कौशल विकास, 8 प्राचार्य कौशल विकास, 16 प्रशिक्षण अधिकारी कौशल विकास, 3 स्टेट टीम के सदस्य, 3 राज्य स्तरीय अधिकारी-कर्मचारी, 3 कौशल विकास के क्षेत्र में कार्य कर रहीं अन्य 24 विभाग की टीम, 16 कैम्पेन मेनेजर और 16 स्टाफ कौशल विकास विभाग को पुरस्कृत किया जायेगा। नामांकन प्रक्रिया ऑनलाइन रहेगी। विभाग की वेबसाइट mpskill.gov.in पर आवेदन करना होगा। पुरस्कार प्रति वर्ष विश्व युवा कौशल दिवस पर 15 जुलाई को मुख्यमंत्री द्वारा दिये जायेंगे। चयन प्रक्रिया में तीन चरण होंगे। तीसरे चरण में प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा की अध्यक्षता में गठित समिति नामांकितों को समिति के समक्ष प्रस्तुतीकरण देने के लिए बुलायेगी। इसके बाद पुरस्कार के लिए चयन किया जायेगा।


aaसही आधार नम्बर की छाया प्रति 31 मई तक राशन की दुकान पर जमा करवाये


25 May 2017

खाद्य विभाग द्वारा आधार नम्बर इनवेलिड पाये जाने और मिलान सही नहीं पाये जाने वाले हितग्राहियों को एन. आई. सी. के माध्यम से एस.एम.एस. भेजे गये है। राशन दुकानों पर यह जानकारी पी.ओ.एस. मशीन में भी प्रदर्शित की गई है। खाद्य विभाग द्वारा भेजे गये एस.एम.एस. में हितग्राही से 'अपने परिवार के सभी सदस्यों के सही आधार नम्बर की छायाप्रति 31 मई तक' राशन के दुकानदार को उपलब्ध करवाने को कहा गया हैं। ऐसा नहीं करने पर हितग्राही को जुलाई का राशन प्राप्त नहीं होगा। आयुक्त खाद्य श्री विवेक पोरवाल ने बताया कि खाद्य संचालनालय द्वारा एम.पी.एस.ई.डी.सी. के माध्यम से तीन करोड़ हितग्राहियों के आधार का वेलिडेशन करवाया गया। इसमें 5 लाख 33 हजार 154 हितग्राही इनवेलिड आधार नंबर वाले और 34 लाख 53 हजार990 हितग्राही पूर्णत: मिसमैच आधार नंबर वाले पाये गये। इन परिवारों को एनआईसी द्वारा एस.एम.एस. भेजे गये हैं।


aaकिसानों के लिये सहकारी बैंकों में पर्याप्त नगदी की उपलब्धता सुनिश्चित करें - मुख्यमंत्री श्री चौहान


24 May 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने गेहूँ उपार्जन की राशि किसानों को समय पर भुगतान करने की व्यवस्था के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि सहकारी बैंकों में नगदी की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की जाये। इसकी प्रतिदिन मॉनिटरिंग भी की जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज इस संबंध में मंत्रालय में अधिकारियों की बैठक ली। उन्होंने किसानों को उपार्जन की राशि की बैंकों से निकासी में आ रही समस्या को तत्काल हल करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि ज्यादातर किसानों के खाते सहकारी बैंकों में है। नगदी की कमी के कारण भुगतान में दिक्कत नहीं आना चाहिए, इसलिए इन बैंकों में रिजर्व बैंक द्वारा नियमित रूप से पर्याप्त नगदी उपलब्ध करवाई जाये। जिन जिलों में ज्यादा नगदी की आवश्यकता है वहाँ पहले उपलब्ध करवाई जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इसके समन्वय के लिये प्रमुख सचिव, सहकारिता को निर्देशित किया। इस दौरान बताया गया कि उपार्जन की राशि बैंक खातों में नियमित रूप से पहुँच रही है। बैठक में मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए.पी. श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव सहकारिता श्री अजीत केसरी, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री अशोक वर्णवाल तथा रिजर्व बैंक के क्षेत्रीय निदेशक श्री अजय मिचियारी एवं अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा वृक्षारोपण की वेबसाईट का लोकार्पण


24 May 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नर्मदा सेवा यात्रा दुनिया में मानव के अस्तित्व को बचाने का महाअभियान है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में नदियों से वैज्ञानिक तरीके से रेत खनन की व्यवस्था की जायेगी। प्रदेश की खनन नीति को भी बदला जायेगा। रेत के मूल्य को नियंत्रित रखने की व्यवस्था की जायेगी। श्री चौहान मुख्यमंत्री निवास में नर्मदा सेवा मिशन की वृक्षारोपण में जनभागीदारी के लिये पंजीयन वेबसाईट के लांचिग कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान ने वेबसाईट का लोकार्पण किया तथा नर्मदा मैया की जय के साथ वृक्षारोपण के लिये उपस्थितों को संकल्पित करवाया। अभियान से जुड़ने के इच्छुक व्यक्ति वेबसाईट पर पंजीयन करा सकते हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पर्यावरण और विकास में संतुलन जरूरी है। निर्माण के लिये रेत के साथ नदियों का अस्तित्व भी जरूरी है। नदियों से सिल्ट उठाने के लिये जितना आवश्यक है, उतना ही उत्खनन हो। ऐसे प्रबंध किये जायेंगे। मशीनों से रेत उत्खनन पूर्णत: बंद किया गया है। उत्खनन पर खनिज निगम का नियंत्रण होगा। वही उसका मूल्य भी निर्धारित करेगा ताकि गरीबों को मकान बनाने के लिये सस्ती दर पर रेत की आसान उपलब्धता हो। ठेके से रेत उत्खनन व्यवस्था को बदला जायेगा। उत्खनन कार्य मजदूरों से होगा। महिलाओं और युवाओं के स्वसहायता समूह ही उत्खनन करेंगे, जिनको माइनिंग कार्पोरेशन रेत के विपणन से होने वाला लाभांश बोनस के रूप में देगा। इससे उत्खनन से मिलने वाला पैसा जो अभी चंद ठेकेदारों की जेब में जाता है, वह लाखों गरीब मजदूर परिवारों को मिलने लगेगा। उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा मिशन के तहत हर वर्ष वृहद वृक्षारोपण किया जायेगा। आगामी दो जुलाई को नर्मदा के तट और संपूर्ण कैचमेंट एरिया में वृक्षारोपण किया जायेगा। वन, राजस्व भूमि में वन प्रजाति और निजी भूमि पर फलदार पौधे लगाये जायेगें। पेड़ों को जिंदा रखने के सभी जरूरी कार्य किये जायेंगे। इसके साथ ही ट्रीटमेंट प्लांट लगाकर मल-जल को नर्मदा की विपरीत दिशा में ले जाया जायेगा। उसे रि-सायकल कर बागानों, खेतों आदि में छोड़ा जायेगा। धर्म-प्रमुखों ने पूजन-विधि भी बदली है। पूजन-सामग्री विर्सजन के कुंड भी बन रहे है। जैविक खेती को बढ़ाया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा सेवा अभियान को अन्य नदियों पर भी लागू किया जायेगा। इसे पर्यावरण के अन्य क्षेत्रों में भी विस्तारित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि अभियान जनता का है, उसे ही आगे रहना होगा। अभियान में सरकार का पूरा सहयोग मिलेगा। उन्होंने कहा कि नदी पर्यावरण संरक्षण के इस महायज्ञ में आहूति देने के लिये आगे आयें। मुख्यमंत्री ने जन-जागृति की अलख जगाने का आव्हान किया तथा कहा कि आगामी दो जुलाई को पौधरोपण करने वालों का ऐसा मेला लगे, जिसे देख देश-दुनिया चमत्कृत हो जाये। उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा मिशन धरती को बचाने का अभियान है। धरती का जिस तेजी से तापमान बढ़ रहा है, उसे यदि नियंत्रित नहीं किया गया तथा चंद भौतिक सुविधाओं के लिये प्रकृति के साथ अंधाधुन्ध छेड़छाड़ नहीं थमी तो, यह भविष्य की पीढ़ी के लिये कब्र खोदने जैसा होगा। वन मंत्री डॉ.गौरी शंकर शेजवार ने कहा नर्मदा सेवा अभियान को अपार जन सर्मथन मिला है। इससे यह दुनिया का सबसे बड़ा नदी संरक्षण अभियान बन गया। उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा नर्मदा नदी की धारा को अविरल और नदी को निर्मल बनाने का अभियान है। धारा को अविरल बनाने का वैज्ञानिक कार्य 2 जुलाई को पौध-रोपण से होगा। रोपण के लिये आवश्यक 6 करोड़ पौधों की व्यवस्था है। वन विभाग ने वन-प्रजाति के और उद्यानिकी विभाग ने फलदार पौधों की शासकीय-अशासकीय नर्सरियों में उपलब्धता करा ली है। पौध-रोपण के लिये जून माह में गढ्ढे खोदने का कार्य किया जायेगा। पेड़ों की सुरक्षा और जीवितता के सभी आवश्यक कार्य किये जायेंगे। पशुओं से रक्षा के लिये फेसिंग और चौकीदार रखें जा सकेंगे। यह अभियान दुनिया में वृक्षारोपण का कीर्तिमान बनायेगा। जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री राघवेंद्र गौतम ने कहा कि माँ नर्मदा को हरियाली चुनरी ओढ़ाने के लिये 6 करोड़ पौधों का रोपण समाज के माध्यम से 2 जुलाई को होगा। उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डे ने आभार व्यक्त किया। वेबसाइट लांचिंग कार्यक्रम में लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, राज्य खनिज निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे, सांसद श्री भागीरथ प्रसाद, संगीतज्ञ सुश्री दुर्गा जसराज , गायत्री परिवार के डॉ. शंकर पाटीदार, सागर ग्रुप के श्री पी.एस.राजपूत, एल.एन.सी.टी. के श्री अमित उपाध्याय, आर.के.डी.एफ. के श्री योगीराज सिंह, नर्मदा सेवा समितियों, कृषि स्नातक संघ,एन.सी.सी.,एन.एस.एस., स्काउट एण्ड गाइड आदि के प्रतिनिधि एवं सदस्य उपस्थित थे।


aaग्लोबल स्किल समिट एक जून को भोपाल में


24 May 2017

ग्लोबल स्किल एंड एम्प्लॉयमेंट समिट-2017 भोपाल में आगामी एक जून को आयोजित होगी। समिट में कौशल विकास और रोजगार पर केन्द्रित 6 सेमिनार होंगे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय में इस समिट की तैयारियों की समीक्षा की। समिट में केन्द्रीय कौशल विकास एवं उद्यमिता राज्यमंत्री श्री राजीव प्रताप रूड़ी और उद्योग जगत के प्रतिनिधि उपस्थित रहेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि रोजगार के नये अवसर की सृजन की दृष्टि से यह महत्वपूर्ण समिट है। इस महत्वपूर्ण आयोजन की सभी तैयारियाँ समय-सीमा में पूरी करें। समिट में 437 इंटेंशन टू एम्प्लॉय होंगे, जिनके माध्यम से तीन लाख 17 हजार 451 रोजगार का सृजन होगा। समिट में 214 इंटेंशन टू स्किल होंगे, जिनके माध्यम से 2 लाख 22 हजार 816 व्यक्ति का कौशल विकास किया जायेगा। बैठक में बताया गया कि समिट के दौरान जिन विषयों पर सेमिनार आयोजित होंगे उनमें विनिर्माण क्षेत्र में कौशल विकास और रोजगार के अवसर, रोजगारोन्मुखी उच्च शिक्षा, स्व-रोजगार के अवसर, कुशल जनशक्ति की भर्ती में अवसर और चुनौतियाँ, महिलाओं के लिये कौशल उन्नयन एवं रोजगार तथा पर्यटन क्षेत्र में कौशल विकास एवं रोजगार के अवसर शामिल हैं। समिट में कौशल विकास के लिये विभिन्न एम.ओ.यू. होंगे। समिट में लगभग 1500 प्रतिनिधि के अलावा कौशल विकास क्षेत्र के प्रमुख सलाहकार, शैक्षणिक संस्थानों के निदेशक, बैंकिंग क्षेत्र के प्रतिनिधि, नियोजनकर्ता एजेंसियाँ, युवा सशक्तिकरण के लिये काम कर रहे प्रमुख एनजीओ शामिल होंगे। ईज ऑफ डूईंग में प्रदेश को सर्वश्रेष्ठ बनायें मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट-2016 में किये गये निवेश प्रस्तावों के क्रियान्वयन की समीक्षा की। उन्होंने निर्देश दिये कि इन प्रस्तावों की लगातार मॉनिटरिंग की जाये। ईज ऑफ डूईंग बिजनेस के क्षेत्र में प्रदेश को सर्वश्रेष्ठ बनाने के लिये कार्य करें। बताया गया कि इन्वेस्ट पोर्टल के माध्यम से सिंगल विण्डो सिस्टम के तहत विभिन्न विभाग से संबंधित 30 सेवाएँ उपलब्ध करवाने की तैयारी की जा रही है। बैठक में राज्य रोजगार निर्माण बोर्ड के अध्यक्ष श्री हेमन्त देशमुख, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिवद्वय श्री अशोक वर्णवाल और श्री एस.के. मिश्रा, प्रमुख सचिव वाणिज्य एवं उद्योग श्री मोहम्मद सुलेमान सहित संबंधित विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने दिव्यांग तैराक श्री लोहिया को शुभकामनाएँ दी


23 May 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने विक्रम पुरस्कार विजेता दिव्यांग तैराक सत्येंद्र सिंह लोहिया को इंग्लिश चैनल सफलतापूर्वक तैरने के लिए शुभकामनाएँ दी। श्री लोहिया ने मुख्यमंत्री से आज निवास पर भेंट कर ब्रिटेन यात्रा के लिये दो लाख रूपये दिये जाने के लिए उनका आभार व्यक्त किया। श्री लोहिया ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को बताया कि चैनल एसोसिएशन के आमंत्रण पर वे आगामी 3 जून को ब्रिटेन जा रहे हैं। वहाँ वे एक माह का विशेष प्रशिक्षण भी प्राप्त करेंगे। उनको 30 जून से 8 जुलाई तक इंग्लिश चैनल तैरने का समय दिया गया है। उन्होंने बताया कि 75 प्रतिशत नि:शक्तता के साथ इंग्लिश चैनल तैरने वाले देश-प्रदेश के पहले दिव्यांग तैराक होंगे।


aa24 मई को होने जा रही है शुरुआत


23 May 2017

मध्यप्रदेश में प्रसिद्ध पर्यटन एवं धार्मिक स्थल ओंकारेश्वर के नजदीक सेलानी नामक स्थल पर एक और जल-पर्यटन स्थल ने आकार लिया है। खण्डवा जिले के हनुवंतिया में विकसित वॉटर टूरिज्म कॉम्पलेक्स की तर्ज पर निर्मित किये गये इस जल-पर्यटन केन्द्र पर बोट क्लब सहित क्रूज, जलपरी, मोटर बोट और वाटर स्पोर्टस आदि की सुविधाएँ उपलब्ध करवायी जायेंगी। इस प्रकार एक निर्जन एवं पहुँच से दूर इस स्थान पर पर्यटकों को ठहरने एवं जल-क्रीड़ा गतिविधियों का लुत्फ उठाने सहित कोलाहल से दूर एक शांत और निर्मल नीर से भरे मनोरम स्थल पर अपना कुछ वक्त बिताने की सहूलियत मिलने लगेगी। ओंकारेश्वर के नजदीक पर्यटन निगम द्वारा विकसित सेलानी टापू रिसॉर्ट की शुरूआत 24 मई, 2017 को होने जा रही है। पर्यटन एवं संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा एवं राज्य पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष श्री तपन भौमिक पर्यटन निगम के स्थापना दिवस पर भोपाल में 24 मई को पूर्वान्ह 11.30 बजे आयोजित कार्यक्रम में इसका शुभारंभ रिमोट के जरिये करेंगे। मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम द्वारा लगभग तीन एकड़ क्षेत्र पर यह पर्यटन केन्द्र विकसित करने की योजना तैयार कर उसे मूर्त स्वरूप दिया गया है। सेलानी चहुँओर से पानी से घिरे एक टापू के रूप में स्थित है। नजदीक ही ओंकारेश्वर बाँध परियोजना है। परियोजना के समीप होने से इस स्थान पर भरे जल का स्तर वर्षाकाल में भी न तो बढ़ता है और न ही उसके बाद कभी कम होता है। यह टापू चारों ओर से ढलाननुमा बसा हुआ है और यहाँ पर जंगली पेड़ कस्टार, काड़ाकूड़ा, मोहिनी, बियालकड़ी, दही-कड़ी और धावड़ा तथा सागौन की दुर्लभ प्रजाति के पेड़ हैं। छोटी कावेरी एवं पुण्य सलिला नर्मदा का संगम स्थल भी पास में ही है। राज्य पर्यटन विकास निगम द्वारा तकरीबन 15 करोड़ रुपये लागत से यहाँ सर्व-सुविधायुक्त कॉटेज, प्रथम तल पर स्थित कॉटेज पर जाने के लिये पाथ-वे, केम्प फायर, मुख्य प्रवेश द्वार, रिसेप्शन, रेस्टॉरेंट, बोट-क्लब, कॉन्फ्रेंस हॉल, नेचुरल ट्रेल, बर्ड-वाचिंग तथा वॉच-टॉवर आदि का निर्माण किया गया है। यहाँ चार अलग-अलग ब्लॉक में 22 कॉटेज एवं एक सर्व-सुविधायुक्त सुईट बनाये गये हैं। हरेक कॉटेज के पास मिनी गार्डन भी रहेगा। कॉटेज की डिजाइन इस प्रकार बनायी गयी है जिससे कि यहाँ बैठकर ही दूर तलक भरे हुए निर्मल नीर का आनंद उठाया जा सकता है। कॉटेज की बालकनी में बैठकर पर्यटक घने जंगल, पानी और दुर्लभ प्रजाति के पक्षियों को निहार सकेंगे। आस-पास के जंगल में मुख्य रूप से हिरण, जंगली सुअर, तेंदुआ आदि वन्य-प्राणी भी स्वच्छंद विचरण करते हैं। कॉटेज के निर्माण में सागौन की लकड़ी का उपयोग किया गया है। परिसर में लैण्ड-स्केपिंग का काम किया जाकर फर्श पर सेंड स्टोन लगायी गयी है।।


aaबिजली पंचायत का आयोजन 1 से 3 जून तक


23 May 2017

मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा अपने कार्यक्षेत्र में 1 से 3 जून तक बिजली पंचायत का आयोजन ग्राम पंचायत स्तर पर किया जाएगा। ग्राम पंचायत में बिजली पंचायत तीन दिन में से किसी एक दिन एक ग्राम पंचायत पर आयोजित की जाएगी। बिजली पंचायतों में उपभोक्ताओं की समस्याओं का निराकरण सुनिश्चित करने के लिए प्रभावी कार्यवाही की जाएगी। बिजली पंचायत में बिजली बिल संबंधी, बन्द/खराब मीटर से संबंधित, वोल्टेज कम/ज्यादा होने की समस्या, नया कनेक्शन, ट्रांसफार्मर बदलने संबंधी, विद्युत संयोजन में नाम/भार परिवर्तन संबंधी, संयोजनों को स्थाई रूप से विच्छेदित करवाने तथा विद्युत संबंधी अन्य समस्याओं का मौके पर निराकरण किया जाएगा। भोपाल क्षेत्र की 851, विदिशा की 577, सीहोर की 348, राजगढ़ की 627, होशंगाबाद की 640 और बैतूल की 556 ग्राम क्षेत्र में बिजली पंचायत होगी। इसी प्रकार ग्वालियर क्षेत्र की 589, मुरैना कील 483, भिण्ड की 433, गुना की 752, शिवपुरी की 602 और श्योपुर की 236 ग्राम में बिजली पंचायत का आयोजन होगा।


aaई-गवर्नेंस की प्रभावी पहल, प्रगति ऑनलाइन


22 May 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने 'प्रगति' ऑनलाइन कार्यक्रम में वीडियों कान्फ्रेंस के माध्यम से प्रगतिरत 10 बड़ी परियोजनाओं की अद्यतन स्थिति की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने लोक निर्माण, जल संसाधन, तकनीकी शिक्षा, चिकित्सा शिक्षा, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, वाणिज्य, उद्योग एवं रोजगार, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण और राजस्व विभाग के कार्यों की परियोजनावार जानकारी ली। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि परियोजनाएँ समय-सीमा में पूरी हों। उनकी नियमित मॉनीटरिंग की जाये। विलंब करने वाली एजेंसियों के खिलाफ दण्ड के प्रावधान किये जायें। निर्माण से संबद्ध काम भी समानांतर किये जायें। उन्होंने जल प्रदाय योजनाओं के निर्माण से प्रभावित सड़कों को वर्षा ऋतु से पहले अनिवार्यत: दुरूस्त करवाने के निर्देश दिये। कार्यक्रम में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की 230 करोड़ रूपये से अधिक लागत की मरदानपुर ग्रामीण समूह जल प्रदाय योजना जिला सीहोर, 155 करोड़ रूपये से अधिक की उदयपुरा ग्रामीण समूह जल प्रदाय योजना जिला रायसेन की समीक्षा की। तकनीकी शिक्षा विभाग के नौगाँव छतरपुर में 20 करोड़ रूपये से अधिक लागत के निर्माणाधीन इंजीनियरिंग कॉलेज निर्माण की जानकारी ली। चिकित्सा शिक्षा विभाग के तहत 175 करोड़ रूपये से अधिक लागत की चिकित्सा महाविद्यालय खण्डवा की अद्यतन प्रगति की जानकारी ली। मुख्यमंत्री को बताया गया कि वर्ष 2018 जनवरी तक परियोजना का काम पूरा हो जायेगा। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा छतरपुर में 32 करोड़ रूपये से अधिक लागत के 300 बिस्तर वाले अस्पताल निर्माण प्रगति की समीक्षा में बताया गया कि निर्माण कार्य इस वर्ष के अंत तक पूरा हो जायेगा। नगरीय विकास तथा आवास विभाग द्वारा बताया गया कि पुनर्घत्वीकरण योजना में रीवा में 18 करोड़ रूपये से अधिक लागत के ऑडिटोरियम एवं उपकुलपति निवास निर्माण का काम समय-सीमा में पूरा हो जायेगा। मुख्यमंत्री को समीक्षा के दौरान जल संसाधन की वृहद परियोजना बानसुजारा के बारे में बताया गया कि 1768 करोड़ रूपये से अधिक लागत की योजना से 186 गाँवों को सिंचाई की सुविधा उपलब्ध हो जायेगी। राजस्व विभाग की ई-भूलेख योजना की समीक्षा में बताया गया कि 32 जिलों की 210 तहसीलों में योजना लागू हो गई है। एप्लीकेशन से प्रतिलिपियों का वितरण किया जा रहा है। कुल 10 करोड़ 41 लाख रूपये का राजस्व अर्जित हुआ है। कुल 17 में से 9 मॉड्यूल पूरे हो गये है, शेष का जून अंत तक पूरा हो जाना अनुमानित है। प्रगति ऑनलाइन में वाणिज्य, उद्योग एवं रोजगार विभाग द्वारा विक्रम उद्योगपुरी लिमिटेड नरवर, उज्जैन में 442 हेक्टेयर क्षेत्र में बुनियादी ढाँचे के विकास का काम किया जा रहा है। वर्ष 2018 के अंत तक इसका पूरा हो जाना अनुमानित है। इसमें ऑटो कंपोनेंट, आई.टी., इंजीनियरिंग सर्विसेज एनर्जी हब, मेडिकल हब, इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग हब विकसित करने का लक्ष्य है। बताया गया कि लोक निर्माण विभाग द्वारा चंबल एक्सप्रेस-वे का निर्माण राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 552 पर पाली के समीप से शुरू होगा। परियोजना के लिये लगभग 2500 हेक्टेयर भूमि में से 80 प्रतिशत से अधिक शासकीय भूमि उपलब्ध है


aaरेत उत्खनन और विपणन व्यवस्था के लिये समिति गठित


22 May 2017

राज्य शासन ने प्रदेश में रेत के वैज्ञानिक उत्खनन और विपणन की प्रभावी पारदर्शी व्यवस्था तैयार करने के लिये खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल की अध्यक्षता में समिति गठित की है। अपर मुख्य सचिव ऊर्जा एवं आनंद विभाग श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव नर्मदा घाटी विकास अथवा उनके प्रतिनिधि, प्रमुख सचिव नगरीय विकास, आवास एवं पर्यावरण तथा प्रमुख सचिव जल संसाधन विभाग समिति के सदस्य होंगे। खनिज साधन विभाग के सचिव इस समिति के सदस्य सचिव होंगे। आईआईटी रूड़की के प्रो. नवीन शर्मा, आईआईटी खड़गपुर के प्रो. अभिजीत मुखर्जी तथा श्री के. पाठक, आईआईटी नई दिल्ली के प्रो. ए.के. गोसांई तथा बरकतउल्ला विश्वविद्यालय भोपाल में इंनवायरमेंट साईंस के विभागाध्यक्ष प्रो. प्रदीप श्रीवास्तव को विशेष-विशेषज्ञ के रूप में सम्मिलित किया गया है। समिति रेत के वैज्ञानिक उत्खनन में मापदण्ड और प्रक्रिया तथा आधुनिक तकनीक का उपयोग करते हुए रेत के पारदर्शी और दक्ष विपणन संबंधी व्यवस्था पर अनुशंसा करेगी। समिति 6 माह में अपना प्रतिवेदन राज्य शासन को प्रस्तुत करेगी।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान दिव्यांग बाराती बच्चों के साथ विवाह समारोह में हुये शामिल


22 May 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आज दिव्यांग बच्चों के साथ बारात में शामिल हुये। विवाह समारोह में वर पक्ष द्वारा 450 दिव्यांग बच्चों को आमंत्रित किया गया था। उन्होंने नव विवाहित वर-वधू को सुखी वैवाहिक जीवन की शुभकामनायें दी। इस अवसर पर सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री संजय-सत्येन्द्र पाठक और वर-वधू के परिजन उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि शादी की खुशियों को दिव्यांग बच्चों के साथ बाटना अत्यंत सराहनीय सार्थक सामाजिक पहल है। बारात में शामिल दिव्यांग बच्चों के चेहरें पर जो खुशी दिख रही है, वह शादी के आनंद को कई गुना बढ़ा रही है। श्री चौहान ने पारिवारिक खुशियों को दिव्यांग बच्चों के साथ बाटने की पहल पर वर-वधू के परिजनों को हार्दिक बधाई दी।


aaग्राम तुमड़ा में दुमिल नदी को संरक्षित करने का अनूठा अभियान


22 May 2017

फंदा विकासखंड भोपाल-इंदौर राजमार्ग से लगभग 15 किलोमीटर अंदर बसे ग्राम तुमड़ा में बहने वाली दुमिल नदी को गहरा तथा संरक्षित करने के लिए नदी संरक्षण कार्य की शुरूआत आज से हुई, जब राज्य सभा सांसद श्री विनय सहस्त्रबुद्वे , भोपाल सांसद श्री आलोक संजर तथा विधायक श्री रामेश्वर शर्मा के साथ हजारो ग्राम वासियों ने दुमिल नदी को चौड़ा करने के लिए श्रमदान शुरू किया। तुमड़ा की आबादी करीब सात हजार है। दुमिल नदी को चौड़ा और गहरा करने से गाँव में पानी का जल-स्तर बढ़ने के साथ ही जानवरोँ के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी उपलब्ध होगा। ग्राम तुमड़ा के लोग बोरवेल के जरिये पीने और निस्तार के लिए जल प्राप्त करते हैं। सांसद श्री विनय सहस्त्रबुद