Untitled Document


register
REGISTER HERE FOR EXCLUSIVE OFFERS & INVITATIONS TO OUR READERS

REGISTER YOURSELF
Register to participate in monthly draw of lucky Readers & Win exciting prizes.

EXCLUSIVE SUBSCRIPTION OFFER
Free 12 Print MAGAZINES with ONLINE+PRINT SUBSCRIPTION Rs. 300/- PerYear FREE EXCLUSIVE DESK ORGANISER for the first 1000 SUBSCRIBERS.

   >> सम्पादकीय
   >> राजधानी
   >> कवर स्टोरी
   >> विश्व डाइजेस्ट
   >> बेटी बचाओ
   >> आपके पत्र
   >> अन्ना का पन्ना
   >> इन्वेस्टीगेशन
   >> मप्र.डाइजेस्ट
   >> मध्यप्रदेश पर्यटन
   >> भारत डाइजेस्ट
   >> सूचना का अधिकार
   >> सिटी गाइड
   >> अपराध मिरर
   >> सिटी स्केन
   >> जिलो से
   >> हमारे मेहमान
   >> साक्षात्कार
   >> केम्पस मिरर
   >> फिल्म व टीवी
   >> खाना - पीना
   >> शापिंग गाइड
   >> वास्तुकला
   >> बुक-क्लब
   >> महिला मिरर
   >> भविष्यवाणी
   >> क्लब संस्थायें
   >> स्वास्थ्य दर्पण
   >> संस्कृति कला
   >> सैनिक समाचार
   >> आर्ट-पावर
   >> मीडिया
   >> समीक्षा
   >> कैलेन्डर
   >> आपके सवाल
   >> आपकी राय
   >> पब्लिक नोटिस
   >> न्यूज मेकर
   >> टेक्नोलॉजी
   >> टेंडर्स निविदा
   >> बच्चों की दुनिया
   >> स्कूल मिरर
   >> सामाजिक चेतना
   >> नियोक्ता के लिए
   >> पर्यावरण
   >> कृषक दर्पण
   >> यात्रा
   >> विधानसभा
   >> लीगल डाइजेस्ट
   >> कोलार
   >> भेल
   >> बैरागढ़
   >> आपकी शिकायत
   >> जनसंपर्क
   >> ऑटोमोबाइल मिरर
   >> प्रॉपर्टी मिरर
   >> सेलेब्रिटी सर्कल
   >> अचीवर्स
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> जीवन दर्शन
   >> कन्जूमर फोरम
   >> पब्लिक ओपिनियन
   >> ग्रामीण भारत
   >> पंचांग
   >> रेल डाइजेस्ट
  
मध्यप्रदेश डाइजेस्ट
mpinfo.org

: फीचर

बदलता मध्यप्रदेश : डॉ.एच.एल. चौधरी


aa aa aa aa aa
डा. नरोत्तम मिश्रा, जनसंपर्क मंत्री, मध्यप्रदेश शासन : जीवन परिचय
.... More





aaराज्यपाल द्वारा दीपावली पर्व पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएँ


18 October 2017

राज्यपाल श्री ओम प्रकाश कोहली ने दीपावली पर्व पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं। राज्यपाल श्री कोहली ने अपने संदेश में कहा है कि दीपावली का त्यौहार अंधकार से प्रकाश की ओर बढ़ने का संदेश देता है। यह त्यौहार हमें विश्व में शांति,सदभाव और एकता के साथ रहने की प्रेरणा देता है। राज्यपाल श्री कोहली ने इस अवसर पर सभी प्रदेशवासियों के सुख और समृद्धि की कामना की है।


aaमत्रि-परिषद के सदस्यों ने दी प्रदेशवासियों को दीपावली की शुभकामनाएँ


18 October 2017

राज्य मंत्रि-परिषद के सदस्यों ने प्रदेशवासियों को दीपावली पर्व पर शुभकामनाएँ दी है। मंत्रीगण ने अपने संदेश में कहा है कि दीपों का पर्व दीपावली हमें अन्धेरे से उजाले की ओर निरंतर चलते रहने की प्रेरणा देता है। दीपावली का पर्व सामाजिक सदभाव और भाईचारे के साथ रहने का संदेश भी देता है। मंत्री सर्वश्री जयंत मलैया, गोपाल भार्गव, डॉ. गौरीशंकर शेजवार, सुश्री कुसुम महदेले, कुँवर विजय शाह, गौरीशंकर बिसेन, रुस्तम सिंह, ओमप्रकाश धुर्वे, उमाशंकर गुप्ता, श्रीमती अर्चना चिटनिस, श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, पारसचन्द्र जैन, राजेन्द्र शुक्ल, अंतर सिंह आर्य, रामपाल सिंह, श्रीमती माया सिंह, भूपेन्द्र सिंह और जयभान सिंह पवैया ने अपने संदेश में प्रदेशवासियों को दीपावली पर्व की शुभकामनाएँ दी हैं। राज्य मंत्री सर्वश्री दीपक जोशी, लालसिंह आर्य, शरद जैन, सुरेन्द्र पटवा, हर्ष सिंह, संजय सत्येन्द्र पाठक, श्रीमती ललिता यादव, विश्वास सारंग और सूर्यप्रकाश मीना ने भी प्रदेशवासियों को दीपावली पर्व पर शुभकामनाएँ दी हैं। मंत्रीगण ने विश्वास व्यक्त किया है कि प्रदेशवासी राज्य के सर्वांगीण विकास के लिये पूरी लगन के साथ प्रदेश को अग्रणी बनाने का संकल्प लेंगे। मंत्रि-परिषद के सदस्यों ने ऊर्जा संरक्षण के लिये एलईडी बल्ब का उपयोग करने और पर्यावरण संरक्षण के लिये कम घ्वनि वाले और सीमित संख्या में पटाखों का उपयोग करने का भी आग्रह किया है। मंत्रीगण ने प्रदेशवासियों से दीपावली का पर्व मिल-जुलकर और सदभावपूर्ण माहौल में मनाने का आग्रह किया है।


aaधनतेरस पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की खरीददारी


17 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भारतीय परम्परा के अनुसार धनतेरस पर्व के अवसर पर आज यहाँ सपरिवार खरीददारी की। श्री चौहान अपनी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह और पुत्र कार्तिकेय के साथ न्यू मार्केट स्थित अग्रवाल ज्वेलर्स और दर्वेश बर्तन भंडार पहुँचे। उन्होंने चाँदी का सिक्का, लक्ष्मी और गणेश मूर्ति, काँसे की परात और ताँबे का जग खरीदा। उन्होंने खरीददारी के दौरान कैशलेश भुगतान किया। श्री चौहान ने प्रदेशवासियों को धनतेरस और दीपावली पर्व की शुभकामनाएँ देते हुये कहा कि प्रदेशवासियों के जीवन में सुख और समृद्धि आये। उन्होंने कहा कि प्रदेश में समाज के हर वर्ग के कल्याण के लिये योजनायें बनाई गई है। किसानों को अपनी उपज का उचित मूल्य मिले इसके लिये भावांतर भुगतान योजना लागू की गई है। प्रतिभाशाली विद्यार्थियों के लिये मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना क्रियान्वित की जा रही है। प्रदेश में गरीब कल्याण एजेंडा क्रियान्वित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सभी नागरिक स्वस्थ और प्रसन्न रहें, सबके परिवार सुखी रहें और प्रदेश आगे बढ़ता रहे। इस अवसर पर महापौर श्री आलोक शर्मा और श्री अनिल अग्रवाल लिलि भी उपस्थित थे।


aaभावांतर भुगतान योजना से किसानों के जीवन में आएगी सुख-समृद्धि : मुख्यमंत्री श्री चौहान


17 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज अशोकनगर जिले के विकासखण्ड मुख्यालय मुंगावली में 389.77 करोड़ रुपये लागत की चंदेरी-मुंगावली उद्वहन सिंचाई परियोजना का शिलान्यास करते हुए कहा कि इस परियोजना से किसानों को सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी मिलेगा। खेतों में फसलें लहलहाएंगी। मुख्यमंत्री ने किसान सम्मेलन में भावांतर भुगतान योजना के अंतर्गत किसानों को पंजीयन प्रमाण-पत्र प्रदान करते हुए कहा कि इस योजना से किसानों के जीवन में सुख-समृद्धि आएगी। किसानों को उनकी मेहनत का पूरा लाभ दिलाया जाएगा। समर्थन मूल्य से कम मूल्य पर फसल नहीं बिकने दी जाएगी। किसान सीधे मण्डी में फसल बेचेंगे। समर्थन मूल्य के अंतर की राशि किसान के खाते में राज्य सरकार द्वारा जमा कराई जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसानों को सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराना सरकार की पहली प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में एक हजार करोड़ रुपये का मूल्य स्थिरीकरण कोष बनाया गया है। कृषक युवा उद्यमी योजना लागू की जाएगी। इस योजना के तहत 10 लाख से 2 करोड़ रुपये तक ऋण उपलब्ध कराया जाएगा, जिसकी बैंक गारंटी प्रदेश सरकार देगी। किसानों को योजनाओं की जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार किसानों को बिना ब्याज का ऋण उपलब्ध करा रही है। खसरे और बी-1 की नकल किसानों को घर-घर जाकर दी जाएगी। श्री चौहान ने कहा कि अशोकनगर जिले को सूखाग्रस्त घोषित किया गया है। इस अवसर पर उन्होंने ग्राम पंचायत बहादुरपुर को नई तहसील बनाने और वहाँ पर उप-मण्डी प्रारंभ करने, मुंगावली में बाईपास मार्ग निर्माण, मुंगावली अस्पताल की क्षमता 100 बिस्तर तक निर्मित करने, तहसील पिपरई को नगर परिषद का दर्जा देने और वहाँ कॉलेज खोलने, मुंगावली महाविद्यालय में पी.जी. स्नातकोत्तर कक्षाएँ प्रारंभ कराने और नगर पंचायत शाढोरा में कॉलेज खोलने की घोषणा की। श्री चौहान ने सम्मेलन में 400.36 करोड़ रुपये लागत के विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास भी किया। किसान सम्मेलन में जल-संसाधन एवं जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, जिले के प्रभारी मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया, सांसद श्री प्रभात झा, विधायक श्री गोपीलाल जाटव, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती बाईसाहब यादव, नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती सुशीला साहू, अन्य जन-प्रतिनिधि और किसान उपस्थित थे।


aaराज्य मंत्री श्री सारंग द्वारा गोविंदपुरा कन्या स्कूल में स्मार्ट क्लास का शुभारंभ


17 October 2017

सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी, राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने आज गोविंदपुरा कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में स्मार्ट क्लास का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि ऑडियो-विजुअल, ग्राफिक्स आदि के माध्यम से तैयार टीचिंग लर्निंग मटेरियल की नई पद्धति स्मार्ट क्लास बच्चों की प्रतिभा को निखारेगी। राज्य मंत्री ने कहा कि शासकीय स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों में प्रतिभा की कमी नहीं है। जरूरत है उनको हरसंभव साधन सुविधा उपलब्ध कराने की, जिससे उनको आगे बढ़ने में मदद मिले। उन्होंने कहा कि कम्प्यूटर के माध्यम से प्रोजेक्टर पर ऑडियो-विजुअल, ग्राफिक्स डिजाइन आदि को शामिल कर कक्षा-एक से 12वीं तक की कक्षाओं के पाठ्यक्रम स्मार्ट क्लास में पढ़ाये जाएंगे। स्मार्ट क्लास के मॉडल में पढ़ाने वाले शिक्षकों को भी प्रशिक्षण देने की व्यवस्था की गई है। गोविंदपुरा कन्या स्कूल में स्मार्ट क्लास की शुरूआत संवेदना प्रोजेक्ट के तहत श्री राजेन्द्र पटेल द्वारा सीएसआर फण्ड में दिए गए अनुदान से शुरू की गई है। संवेदना प्रोजेक्ट की ग्रुप लीडर सुश्री जान्हवी पटेल ने परियोजना के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। इस अवसर पर स्थानीय जन-प्रतिनिधि, शिक्षा विभाग के अधिकारी, गणमान्य नागरिक और छात्राएँ मौजूद थीं।


aaमंत्री श्री आर्य ने किया साँची घी के 5 एवं 15 किलो पैक का शुभारंभ


17 October 2017

पशुपालन मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य ने आज धनतेरस के अवसर पर भोपाल में साँची घी की 5 किलो एवं 15 किलो की अत्याधुनिक पैकिंग का शुभारंभ किया। यह पैकिंग अत्यधिक आकर्षक होने के साथ सुरक्षित और लीक प्रूफ भी है। इसमें फूड ग्रेड गुणवत्ता का प्लास्टिक और कलर इंक का प्रयोग किया गया है। इन डिब्बों को मजबूत होने के कारण काफी मात्रा में कम जगह पर रखा जा सकता है। सीलप्रूफ होने के कारण गुणवत्ता भी सुरक्षित रहेगी और किसी प्रकार की मिलावट की गुंजाइश भी समाप्त हो जाएगी। श्री आर्य ने म.प्र. को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन के अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई देते हुए कहा कि यह उनकी मेहनत का परिणाम है कि पिछले 10-12 साल पहले मध्यप्रदेश जहाँ दुग्ध उत्पादन में देश में छठे-सातवें और गत वर्ष चौथे नम्बर पर था, आज तीसरे पायदान पर आ गया है। श्री आर्य ने कहा कि दुग्ध और साँची उत्पादों की गुणवत्ता और मात्रा में बढ़ोत्तरी का कारण पिछले वर्ष दुग्ध संकलन केन्द्रों और मिल्क रूट संख्या में बढ़ोत्तरी है। उन्होंने कहा कि हम मेहनत कर रहे हैं, हमें मेहनत जारी रखते हुए इसे नम्बर वन बनाना है। श्री आर्य ने कहा कि राज्य शासन का वर्ष 2022 तक कृषि आमदनी को दोगुना करने का लक्ष्य है, जिसमें पशुपालन विभाग महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। भारतीय संस्कृति में पशुधन सदैव महत्वपूर्ण रहा है। आज पढ़े-लिखे नौजवान डेयरी उद्योग में आगे आ रहे हैं। प्रमुख सचिव श्री अजीत केसरी ने बताया कि इस वर्ष दुग्ध संग्राहक किसानों को करीब 200 करोड़ रुपये की राशि का भुगतान किया गया। यह दुग्ध संकलन के लिए अब तक का किया गया सर्वाधिक भुगतान है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के दुग्ध उत्पादों की गुणवत्ता में अब अंतर्राष्ट्रीय मानकों का पालन किया जाएगा। प्रबंध संचालक डॉ. अरुणा गुप्ता ने बताया कि इस वर्ष को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन द्वारा अब तक का सर्वाधिक 14 लाख लीटर दूध का उपार्जन किया गया। मध्यप्रदेश के लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि है कि उसने मदर डेयरी को पीछे छोड़ते हुए इस वर्ष आईआरटीसी का अनुबंध हासिल किया है। मध्यप्रदेश को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन के वर्तमान एवं पूर्व अध्यक्ष श्री मस्तान सिंह राजपूत और श्री धरम सिंह वर्मा, सीपेट दिल्ली के निदेशक, दुग्ध संघों के कार्यपालन अधिकारी तथा अधिकारी-कर्मचारी और आम नागरिक कार्यक्रम में उपस्थित थे।


aaजिला आयुर्वेद चिकित्सालय का विस्तार होगा : राजस्व मंत्री श्री गुप्ता


17 October 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा है कि जिला आयुर्वेद चिकित्सालय का विस्तार किया जाएगा। राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस एवं धनवतंरी जयंती पर आज शासकीय जिला आयुर्वेद चिकित्सालय में नि:शुल्क आयुर्वेद चिकित्सा शिविर में उन्होंने अधिकारियों को विस्तार का प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिये। श्री गुप्ता ने चिकित्सालय में शल्य कक्ष, पुरूष पंच कर्म केन्द्र और पुरूष वार्ड का लोकार्पण भी किया। राजस्व मंत्री ने कहा कि आयुर्वेद पर लोगों का विश्वास बढ़ रहा है। इस विश्वास को पूरी तरह से स्थापित करने की जिम्मेदारी चिकित्सकों की है। उन्होंने कहा कि शिविर में लोगों को बेहतर इलाज के माध्यम से आने के लिये प्रेरित करें। प्रमुख सचिव आयुष श्रीमती शिखा दुबे ने कहा कि देश में सबसे अधिक आयुर्वेद चिकित्सालय भोपाल में हैं। उन्होंने कहा कि अब आयुष पेथी लोगों को पसंद आ रही है। शिविर में मरीजों का नि:शुल्क परीक्षण और दवाइयाँ दी गयी।।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने खुरई से किया भावान्तर भुगतान योजना का शुभारंभ


16 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज सागर जिले की खुरई नवीन कृषि उपज मंडी प्रांगण में भावान्तर भुगतान योजना के राज्य स्तरीय शुभारंभ कार्यक्रम में कहा कि यह योजना किसानों के लिए सुरक्षा कवच के रूप में कार्य करेगी। इस योजना में समर्थन मूल्य से कम दाम पर बिकने वाली फसलों के अंतर की राशि किसानों के बैंक खाते में दी जायेगी। किसानों को उनकी मेहनत का पूरा लाभ दिलाया जायेगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लगभग एक सौ करोड़ रूपये की लागत के विकास कार्यो का लोकार्पण एवं शिलान्यास भी किया। कार्यक्रम का प्रदेश में लाइव प्रसारण किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पूरे प्रदेश की 257 मंडियों में आज से योजना का शुभारंभ हो रहा है। बुंदेलखंड के किसान मेहनत कर रहे हैं। प्रदेश कृषि के क्षेत्र में देश में नम्बर एक है। प्रदेश के किसानों के लिए आज का दिन ऐतिहासिक एवं स्वर्णिम है। सरकार किसानों को कर्ज बिना ब्याज के दे रही है। इतना ही नहीं अब एक लाख का कर्ज लेने पर 90 हजार रूपये ही वापस करना होते हैं। खेती को लाभ का धंधा बनाना है। खुरई के गेहूँ की पूरे हिन्दुस्तान में पहचान है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सिंचाई की सुविधा उपलब्ध करवाना सरकार की प्राथमिकता है। प्रदेश में 40 लाख हैक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई हो रही है। बीना कॉम्पलेक्स की योजना को स्वीकृति दे दी गई है। इसमें लगभग 3735 करोड़ रूपये खर्च होंगे एवं लगभग 2.5 लाख हैक्टेयर में सिंचाई होगी। परकुल, कड़ान मध्यम परियोजनाओं को भी स्वीकृति दे दी गई है। इसी तरह कई लघु परियोजनाओं को स्वीकृति दी जायेगी। केन-बेतवा लिंक परियोजना को जल्दी शुरू करने के प्रयास चल रहे हैं। किसानों को उनकी फसलों की उचित कीमत दिलायी जायेगी। जब तक उचित दाम नहीं मिलेंगे, आमदनी नहीं बढ़ सकती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने 8 रूपये प्रति किलो की दर से प्याज खरीदी है। सरकार किसानों की मेहनत को बर्बाद नहीं होने देना चाहती है। समर्थन मूल्य के नीचे फसल नहीं बिकने देंगे। किसान सीधे मंडी में फसल बेचेगा और समर्थन मूल्य के अंतर की राशि किसान के खाते में डाल दी जायेगी। उड़द, मूंग, सोयाबीन, मक्का के समर्थन मूल्य से नीचे बिकने का उदाहरण देकर मुख्यमंत्री ने योजना की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने किसानों से योजना के तहत पंजीयन कराने की अपील करते हुए बताया कि उद्यानिकी फसलों पर भी यह योजना लागू की जायेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 1000 करोड़ रूपये लागत का मूल्य स्थिरीकरण कोष बनाया गया है। फसल गिरदावली मोड्यूल एप बनाया जायेगा। बुंदेलखंड के सारे जिले सूखाग्रस्त घोषित किये गये हैं। बीस प्रतिशत राशि जमा करने पर जले हुए ट्रांसफार्मर बदलवाये जायेंगे। कृषक युवा उद्यमी योजना लागू की जायेगी जिसमें 10 लाख से लेकर 2 करोड़ रूपये तक का लोन मिलेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि अंचल के कृषि उपकरण पूरे देश में प्रसिद्ध है। इसके लिए खुरई में औद्योगिक क्षेत्र बनाया जायेगा। खसरे और बी-1 की नकल किसानों को घर बैठे दी जायेगी। श्री चौहान ने कहा कि अविवादित नामांतरण, बँटवारा, सीमांकन के मामले युद्ध स्तर पर निपटाये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अच्छा कार्य करने वालों को पुरस्कृत करेंगे एवं भ्रष्टाचारियों पर कार्यवाही करेंगे। वर्ष 2018 तक 4 लाख किसानों को स्थायी कनेक्शन देंगे। मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना लागू की जायेगी। किसानों को निश्चित सीमा में नगद भुगतान किया जायेगा। संकट की घड़ी में सरकार किसानों के साथ खड़ी है, उन्हें घबराने की जरूरत नहीं है। भावान्तर भुगतान योजना किसानों के लिए सुरक्षा कवच है, जो इतिहास रचेगी। उन्होंने मुख्यमंत्री मेधावी छात्र योजना का जिक्र करते हुए छात्रों की पढ़ाई में पूरा सहयोग करने के लिए कहा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बांदरी और खिमलासा में महाविद्यालय खोला जायेगा। खुरई में कृषि महाविद्यालय अगले सत्र में प्रारंभ कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि बीना नदी परियोजना की स्वीकृति दे दी गई है। मालथौन में आई.टी.आई., खुरई में औद्योगिक क्षेत्र और विद्युत मंडल का संभागीय कार्यालय खोला जायेगा। उन्होंने किसानों से बेटा-बेटी को पढ़ाने की अपील की। साथ ही स्वच्छता रखने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि पुलिस में 33 प्रतिशत बेटियों की भर्ती होगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भावान्तर भुगतान योजना को हरी झंडी दिखाकर योजना का शुभारंभ किया। श्री चौहान ने योजना के विक्रय पत्र वितरित किए। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना की अनुदान राशि, लाड़ली लक्ष्मी योजना के प्रमाण-पत्र, मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना के चैक, मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना के चैक, स्वीकृति पत्र और मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत बैंक सखी के रूप में कार्य करने के लिये लैपटॉप वितरित किये। गृह एवं परिवहन मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने कार्यक्रम में बड़ी संख्या में शामिल जनता को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के कार्यकाल में खुरई क्षेत्र में काफी विकास हुआ है। आज पूरे प्रदेश में भावांतर योजना योजना की एक साथ शुरूआत हो रही है। उन्होंने बीना काम्पलेक्स की मंजूरी सहित विभिन्न विकास कार्यो की स्वीकृति के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। उन्होंने बांदरी एवं बीना के खिमलासा में महाविद्यालय, मालथौन में 60 बिस्तर के अस्पताल एवं आई.टी.आई., खुरई में विद्युत मंडल के संभागीय कार्यालय और बरोदिया में 33 के.व्ही. सब स्टेशन सहित विभिन्न मांगें रखी। उन्होंने खुरई में 100 बिस्तर के अस्पताल के लोकार्पण सहित लगभग 100 करोड़ के विकास कार्यों के लोकार्पण एवं शिलान्यास के लिए मुख्यमंत्री श्री चौहान का आभार माना। कार्यक्रम में पंचायत एवं ग्रामीण विकास, सामाजिक न्याय एवं निःशक्तजन कल्याण मंत्री श्री गोपाल भार्गव, सांसद श्री लक्ष्मीनारायण यादव, विधायक सर्वश्री शैलेन्द्र जैन, महेश राय, श्रीमती पारूल साहू, श्री प्रदीप लारिया, श्री हरवंश सिंह राठौर, महापौर श्री अभय दरे, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती दिव्या अशोक सिंह, म.प्र. हाथकरघा विकास निगम के अध्यक्ष श्री नारायण प्रसाद कबीरपंथी, राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष श्रीमती लता वानखेड़े, भाजपा के जिलाध्यक्ष श्री राजा दुबे, श्री शैलेश केशरवानी सहित अन्य जन-प्रतिनिधि, कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


aaशौर्य स्मारक में भारत माता की भव्य प्रतिमा स्थापित होगी


16 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि शौर्य स्मारक में भारत माता की भव्य प्रतिमा स्थापित की जायेगी। प्रदेश में अदभुत वीर भारत स्मारक बनाया जायेगा जिसमें सम्राट चन्द्रगुप्त से लगाकर वर्तमान तक के वीरों का चित्रण किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ शौर्य स्मारक के प्रथम वर्षगांठ समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में सेना में प्रवेश के लिये युवाओं को प्रशिक्षण देने के लिये प्रशिक्षण केन्द्र खोला जायेगा। अगले वर्ष से शौर्य स्मारक का तीन दिवसीय भव्य स्थापना दिवस समारोह मनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि हमें अपनी सेना पर गर्व है। वर्ष 1962 में चीन ने भारत के एक भू-भाग पर कब्जा कर लिया था परन्तु आज जब डोकलाम में चीन की सेना ने कोशिश की तो हमारी सेना ने उन्हें वापस लौटा दिया। हमारी सेना ने पाकिस्तान में आतंकवादियों को खत्म करने के लिये सर्जिकल स्ट्राइक की। हम अपने वीर जवानों की वीरता को प्रणाम करते हैं और उन्हें यह संदेश देना चाहते हैं कि पूरा देश उनके साथ खड़ा है। हम जब त्योहार मनाते हैं तब हमारे जवान सीमा पर विपरीत परिस्थितियों में हमारी रक्षा करते हैं। वो जागते हैं और हम चैन की नींद सोते हैं। युवाओं को सीमा पर माँ तुझे प्रणाम योजना के तहत भेजा जाता है ताकि वे देख सकें कि हमारे सैनिक किन परिस्थितियों में देश की रक्षा करते हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने जब पिछले वर्ष शौर्य स्मारक का लोकार्पण किया था तब हम शहीद सैनिकों के गांवों से मिट्टी लेकर आये थे जो यहाँ रखी है। हम शहीदों की मिट्टी को नमन करते हैं। इस अवसर पर प्रमुख सचिव संस्कृति श्री मनोज श्रीवास्तव ने स्वागत भाषण दिया। उन्होंने बताया कि विगत एक वर्ष में ग्यारह लाख देशी-विदेशी पर्यटकों ने शौर्य स्मारक का अवलोकन किया है। इस वर्ष शौर्य स्मारक का तीन दिवसीय स्थापना दिवस समारोह मनाया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मध्यप्रदेश के अमर शहीदों के ग्रामों से लायी गयी शौर्य रज को पुष्पांजलि दी। कार्यक्रम में वंदेमारतम और मध्यप्रदेश गान प्रस्तुत किया गया। इस अवसर पर आयोजित कवि सम्मेलन में कविगण सर्व श्री गजेन्द्र सोलंकी, विनीत चौहान, योगेन्द्र शर्मा, शंभुसिंह मनहर, सुमित मिश्रा, अविराज पंकज और श्रीमती रूचि चतुर्वेदी ने कवितायें प्रस्तुत कीं। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में नागरिकगण उपस्थित थे।


aaराज्य मंत्री श्री सारंग द्वारा सीहोर में भावान्तर भुगतान योजना का शुभारंभ


16 October 2017

सहकारिता राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने आज सीहोर जिला मुख्यालय पर कृषि उपज मण्डी प्रांगण में भावांतर भुगतान योजना का शुभारंभ किया। श्री सारंग ने इस अवसर पर कहा कि यह योजना राज्य में किसानों की दशा और दिशा बदल देगी। उन्होंने कहा कि शासन की कृषक हितैषी नीतियों के कारण ही राज्य कृषि क्षेत्र में देश में अग्रणी है। इस अवसर पर राज्य मंत्री श्री सारंग ने उपज विक्रय करने वाले प्रथम पंद्रह कृषकों को प्रमाण पत्र प्रदान किये। कार्यक्रम मे विधायक श्री सुदेश राय, सीसीबी अध्यक्ष श्रीमती उषा सक्सेना, नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती अमीता अरोरा सहित अन्य जनप्रतिनिधि तथा बड़ी संख्या में कृषक उपस्थित थे।


aaचंदेरी सूक्ष्म सिंचाई परियोजना का 17 अक्टूबर को शिलान्यास करेंगे मुख्यमंत्री


16 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मंगलवार, 17 अक्टूबर को अशोक नगर जिले में चंदेरी और ग्राम बड़ेरा के निकट राजघाट बरई में चंदेरी सूक्ष्म सिंचाई परियोजना का शिलान्यास करेंगे। इस अवसर पर जल संसाधन, जनसंपर्क तथा संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र उपस्थित रहेंगे। परियोजना स्थल अशोक नगर जिले के चंदेरी के ग्राम बड़ेरा के पास राजघाट बांध के डाउन स्ट्रीम में स्थित है। इस योजना के क्रियान्वयन से इस अंचल के 81 ग्रामों के किसानों को बेहतर सिंचाई सुविधा प्राप्त होगी। राज्य सरकार द्वारा इस योजना के लिए 389.77 करोड़ रुपए की स्वीकृति प्रदान की जा चुकी है। उल्लेखनीय यह है कि जल संसाधन विभाग सिंचाई रकबा बढ़ाने की दिशा में निरंतर कार्य कर रहा है। चंदेरी सूक्ष्म सिंचाई परियोजना के अंतर्गत राजघाट बांई तट नहर के 400 मीटर पर एक इनटेक स्ट्रक्चर का निर्माण कर सिंचाई के लिए उद्वहन कर भूमिगत पाईप लाईन के माध्यम से सिंचाई जल मुहैया करवाया जाएगा। इसके फलस्वरूप किसानों के खेतों तक पानी ले जाकर सिंचाई करना संभव होगा। परियोजना से प्रस्तावित सैंच्य क्षेत्र 20 हजार हेक्टेयर अर्थात 50 हजार एकड़ में सिंचाई की जा सकेगी। प्रदेश में वर्ष 2003 में मात्र छह-सात लाख हेक्टेयर क्षेत्र में ही सिंचाई सुविधा उपलब्ध थी। निरंतर बढ़े सिंचाई रकबे से उत्पादन में वृद्धि के फलस्वरूप मध्यप्रदेश को निरंतर कृषि कर्मण अवार्ड भी प्राप्त हो रहे हैं


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान को राष्ट्रीय वयोश्रेष्ठ सम्मान सौंपे


14 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को आज यहाँ केन्द्रीय सामाजिक न्याय मंत्रालय द्वारा जिला पंचायत उज्जैन और नगर पालिका नागदा को प्राप्त राष्ट्रीय वयोश्रेष्ठ सम्मान-2017 सौंपे गये। यह सम्मान अंतर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस पर राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद द्वारा दिया गया था। इस अवसर पर संभागायुक्त उज्जैन श्री एम.बी. ओझा और कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे उपस्थित थे।


aaउद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल 15 अक्टूबर को ग्वालियर प्रवास पर


14 October 2017

वाणिज्य, उद्योग एवं रोजगार, खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल 15 अक्टूबर को ग्वालियर के एक‍दिवसीय प्रवास पर रहेंगे। वे इस दौरान वहां आयोजित विभिन्न कार्यक्रम में शामिल होंगे। उद्योग मंत्री माँ कनकेश्वरी देवी की कथा का श्रवण करेंगे। इसके बाद टैक्सटाइल इन्क्यूबेशन सेंटर, ग्वालियर के शिलान्यास कार्यक्रम तथा ए.के.व्ही.एन. की विभिन्न इकाईयों के लोकार्पण तथा शिलान्यास कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे। श्री शुक्ल 15 अक्टूबर की रात्रि में रेल द्वारा सतना के लिए रवाना होंगे। वे 16 अक्टूबर को सतना से रीवा पहुंचेगें।


aaऑनलाइन वेब पोर्टल से 3,16,682 आवेदकों को मिला गुमाश्ता


14 October 2017

मध्यप्रदेश में ऑनलाइन वेब पोर्टल से गुमाश्ता लायसेंस जारी करने की प्रक्रिया शुरू की गई है। वर्ष 2013-14 से शुरू इस प्रक्रिया से अब तक 3 लाख 16 हजार 682 आवेदकों को लाभान्वित किया गया है। पिछले दिनों इसे और सरल बनाते हुए अब आवेदन करने के 24 घंटे में संबंधित को गुमाश्ता लायसेंस देना निश्चित किया गया। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश दुकान एवं स्थापना अधिनियम के तहत ट्रेडिंग और सेवा आदि व्यवसाय और दुकान के लिये गुमाश्ता लायसेंस प्राप्त करना जरूरी है। गुमाश्ता लायसेंस प्राप्त करने वाले हितग्राहियों से हुई चर्चा में पता चला कि अब उन्हें पहले की तरह किसी शासकीय कार्यालय जाने की जरूरत नहीं है। अपने नजदीक के एम.पी. ऑनलाइन कियोस्क से वे आवेदन कर सकते हैं। इतवारा भोपाल के श्री राजेन्द्र शर्मा बताते हैं कि पहले तो बैंक में चालान जमा करना भी टाइम टेकिंग प्रोसेस थी। चालान जमा कर आवेदन की पूर्ति करना, फिर आवेदन के साथ डाक्यूमेंट लेकर श्रम विभाग के दफ्तर जाना और श्रम विभाग द्वारा जाँच के बाद गुमाश्ता जारी होता था, जो महीने से ज्यादा का समय लेता था। अब यह सब नहीं होता। सुबह आवेदन जमा करें। एम.पी. ऑनलाइन वाला बिजली का बिल, आधार-कार्ड और दुकान के साथ वाली फोटो स्केन करके ओरिजनल डाक्यूमेंट वापस कर देता है। वही चालान भी जमा कर देता है। इस पूरी प्रक्रिया में 5-7 मिनट लगते हैं और एक दिन के भीतर मोबाइल पर एसएमएस मिल जाता है कि गुमाश्ता बनकर तैयार है। कोटरा, भोपाल निवासी श्री अशोक जैन के पुत्र श्री सुरेश जैन ने बताया कि उनके पिताजी को अपनी दुकान का गुमाश्ता बनवाने में किसी से मदद नहीं लेना पड़ी। एम.पी. ऑनलाइन से एक दिन में गुमाश्ता मिल गया


aaबांद्राभान में फरवरी माह में नदी महोत्सव आयोजित होगा


13 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश के बांद्राभान में फरवरी माह में नदी महोत्सव आयोजित किया जायेगा। इसमें नदी संरक्षण और पर्यावरण के लिये काम करने वाले अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय पर्यावरणविद् तथा नदी सेवक शामिल होंगे। प्रदेश में नर्मदा नदी के तटों पर आयोजित होने वाले मेलों को व्यवस्थित स्वरूप दिया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ नर्मदा सेवा मिशन की समीक्षा बैठक ले रहे थे। बैठक में मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह भी उपस्थित थे। बैठक में बताया गया कि नर्मदा नदी में जल गुणवत्ता मापन के लिये 31 स्थानों पर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा हर माह लिये जा रहे नमूनों में सभी स्थानों पर जल की गुणवत्ता ए-ग्रेड की मिली है। नर्मदा से रेत के अवैध उत्खनन को रोकने के लिये खनिज विभाग द्वारा नर्मदा तट के 16 जिलों में एक हजार 465 प्रकरण बनाये गये हैं तथा अवैध खनिज परिवहन करने वाले 76 वाहन राजसात किये गए हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में नर्मदा सेवा मिशन के तहत विभागवार किये गये कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा मिशन के तहत किये गये कार्यों की हर माह समीक्षा की जायेगी। मिशन के तहत नर्मदा तटों पर लगाये गये पौधों की देखरेख की और उन्हें बचाने की कार्य योजना बनायें। नर्मदा सेवा मिशन के तहत किये गये कार्यों और प्राप्त परिणामों की रिपोर्ट विधानसभा में रखी जायेगी। नर्मदा तट के गांवों को पूरी तरह से खुले में शौच मुक्त करें। नर्मदा के तटों के घाटों पर पोर्टेबल चेंजिंग रूम बनाये जायें। नर्मदा तट के गांवों में नरवाई जलाने से रोकने के लिये जन-जागरण अभियान चलायें। इन गाँवों में नये किसानों को फलदार पौधों की खेती के लिये तैयार करें।
नर्मदा नदी के कैचमेंट क्षेत्र में बनेगी बड़े पैमाने पर तालाब जल संरचनायें-
नर्मदा के तटों पर घाट निर्माण, जीर्णोद्धार और नर्मदा यात्री निवास बनाने की कार्य-योजना तेजी से क्रियान्वित करें। नर्मदा नदी के कैचमेंट क्षेत्र में बड़े पैमाने पर तालाब जल संरचनायें बनायी जायें। इसके लिये नर्मदा घाटी विकास विभाग, वन विभाग और राजस्व विभाग कार्य योजना बनाए। नर्मदा नदी में प्रदूषण नहीं करने के लिये लोगों को जागरूक करें। नर्मदा नदी में गंदे नालों को मिलने से रोकने के लिये 18 सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट निर्माण का कार्य शीघ्र शुरू करें। नर्मदा नदी से उतनी ही रेत का वैज्ञानिक तरीके से उत्खनन हो जिससे पर्यावरण और नदी की पारिस्थितकी को नुकसान नहीं हो। नर्मदा तट के जिन किसानों ने अपने खेतों में फलदार पेड़ लगाये हैं, उन्हें मुआवजा राशि फरवरी माह में कार्यक्रम आयोजित कर दी जाये। नर्मदा तट की पंचायतों में खाद्य प्रसंस्करण की छोटी इकाईयाँ स्थापित करायी जायें।
712 नर्मदा सेवा समितियों का राज्य स्तरीय सम्मेलन आयोजित होगा-
श्री चौहान ने कहा कि आगामी 2 जुलाई को नर्मदा के तटों पर वृहद वृक्षारोपण की तैयारियाँ की जायें। इस वर्ष 12 करोड़ पौधे लगाये जायेंगे। नर्मदा तट की औद्योगिक इकाईयों से नर्मदा नदी में शून्य अपशिष्ट प्रवाहित हो। नर्मदा के तटों पर धार्मिक और आध्यात्मिक पर्यटन विकसित किया जाये। इसके लिये पर्यटन विभाग पैकेज बनाये। नर्मदा तटों के गांवों में नशामुक्ति जागरण का अभियान लगातार चलता रहे। नर्मदा किनारे आयोजित होने वाले मेलों को चिन्हित कर इनके आयोजन को व्यवस्थित स्वरूप दिया जाये। नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान गठित 712 नर्मदा सेवा समितियों का राज्य स्तरीय सम्मेलन आयोजित किया जाये। नर्मदा जयंती के पहले स्कूलों में नर्मदा संरक्षण पर केन्द्रित निबंध, चित्रकला और भजन प्रतियोगितायें आयोजित की जायें।
नर्मदा जल की गुणवत्ता ए-ग्रेड-
बैठक में बताया गया कि नर्मदा नदी के जल की गुणवत्ता की जाँच हर माह प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा 31 स्थानों पर की जा रही है। जाँच में नर्मदा जल की गुणवत्ता ए-ग्रेड की मिली। नर्मदा जल में घुली हुई ऑक्सीजन की मात्रा प्रति लीटर 6 मिलीग्राम और बी.ओ.डी. की मात्रा दो मिली ग्राम पायी गयी। नर्मदा किनारे स्थित सभी 11 उद्योगों में जल उपचार संयंत्र लगाये गये हैं। इसमें से 10 उद्योगों द्वारा नर्मदा में प्रदूषित जल प्रवाहित नहीं किया जाता है जबकि एक उद्योग द्वारा उपचारित जल छोड़ा जाता है। इस तरह नर्मदा नदी प्रदूषण से मुक्त है। नर्मदा के तटों पर वृहद वृक्षारोपण के कार्यक्रम के तहत गत 2 जुलाई को एक दिन में एक लाख 30 हजार स्थानों पर 7 करोड़ 10 लाख पौधे लगाये गये हैं। इन पौधों की देखरेख के लिये पौध रक्षक नियुक्त किये गये हैं तथा गर्मी के मौसम में इन्हें बचाने के लिये मटका सिंचाई की योजना बनायी गयी है। नर्मदा के तटों पर अपने खेतों में फलदार पौधे लगाने वाले किसानों को ड्रिप इरिगेशन के लिये प्रेरित किया जायेगा। नर्मदा तट के सभी गांवों को आगामी 30 नवम्बर तक खुले शौच से मुक्त किया जायेगा। नर्मदा तटों के ग्रामों में विसर्जन कुण्ड और मुक्ति धाम और चेंजिंग रूम बनाये जा रहे हैं।
नर्मदा तट पर 190 घाट और 92 नर्मदा यात्री निवास बनेंगे-
इन गांवों में जैविक खेती के लिये 16 हजार 480 एकड़ में 412 क्लस्टर स्वीकृत किये गये हैं। इन सभी गांवों में दो से चार नाडेप बनाये गये हैं। इनसे जुड़े पाँच हजार एक सौ किसानों को विविध खेती के लिये प्रशिक्षण दिया गया है। इन क्षेत्रों के एक हजार मछुआरों को नदी संरक्षण का प्रशिक्षण दिया गया है। नर्मदा नदी के तटों पर अगले पाँच सालों में 190 घाट और 92 नर्मदा यात्री निवास बनाये जायेंगे। नर्मदा के कैचमेंट क्षेत्र में इस वर्ष करीब डेढ़ हजार जल संरचनायें बनाई जायेंगी। नर्मदा तट के गांवों में 48 गौ शालायें स्वीकृत की गयी हैं। इन गांवों में दोना पत्तल निर्माण और मिट्टी के कुल्हण निर्माण के कुटीर उद्योग के प्रकरण स्वीकृत किये गये हैं।
16 हजार किसानों ने अपने खेतों में लगाये फलदार पौधे-
नर्मदा तट के गांवों में 292 हेक्टेयर क्षेत्र के 425 अतिक्रमण हटाये गये हैं। नर्मदा नदी के तटों के गांवों में 16 हजार किसानों ने अपने खेतों में फलदार पौधे लगाये हैं। नर्मदा कैचमेंट में स्थित जिलों में पॉलीथिन की रोकथाम के लिये की गई कार्रवाई में दो हजार 946 किलोग्राम पॉलीथिन जब्त की गई। साथ ही लोगों को पॉलीथिन के दुष्प्रभाव की जानकारी देने के लिये जनजागरण कार्यक्रम किये गये हैं। नर्मदा तट के ग्राम मेताखेड़ा में उत्खनन में 50 हजार वर्ष पुराने पुरातात्विक अवशेष मिले हैं। प्रदेश के स्कूली विद्यार्थियों ने विगत 23 सितम्बर को नदी संरक्षण का संकल्प लिया है। बैठक में जन-अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पांडे, अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए.पी. श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव ग्रामीण विकास श्री आर.एस. जुलानिया, अपर मुख्य सचिव ऊर्जा श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव नर्मदा घाटी विकास श्री रजनीश वैश सहित नर्मदा सेवा मिशन से संबंधित विभागों के प्रमुख सचिव और वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


aaअमृत परियोजना क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश प्रथम


13 October 2017

मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह ने आज केंद्रीय आवास एवं नगरीय विकास मंत्रालय में सचिव श्री डी.एस. मिश्रा को प्रदेश में नगरीय विकास एवं आवास विभाग द्वारा क्रियान्वित योजनाओं में प्रगति की जानकारी दी। मंत्रालय में आयोजित प्रस्तुतिकरण में अमृत परियोजना, स्मार्ट सिटी मिशन, स्वच्छ भारत मिशन, प्रधानमंत्री आवास योजना तथा राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के तहत प्रदेश में जारी गतिविधियों पर चर्चा हुई। इस अवसर पर सचिव तथा आयुक्त नगरीय विकास श्री विवेक अग्रवाल तथा विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। बैठक में केंद्रीय सचिव श्री मिश्रा ने कहा कि नगरीय विकास के लिए क्रियान्वित की जाने वाली परियोजनाओं में अधिक से अधिक जनभागीदारी सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि इन परियोजनाओं का उद्देश्य जीवन को बेहतर बनाना है अत: इनके क्रियान्वयन में क्षेत्रीय लोगों को जोड़ना आवश्यक है। परियाजनाओं को केवल इंजीनियरिंग का भाग नहीं मानकर जीवन को बेहतर बनाने के लिए क्रियान्वित की जाने वाली योजनाओं के रुप में देखा जाए। श्री मिश्रा ने अधिक से अधिक लोगों को सकारात्मक रुप से प्रभावित करने वाली परियोजनाओं को प्राथमिकता के आधार पर पूरा करने के निर्देश दिए। केंद्रीय सचिव श्री मिश्रा ने अमृत परियोजना में मध्यप्रदेश की प्रगति और क्रियान्वयन प्रक्रिया की सराहना करते हुए कहा कि प्रदेश ने देश में सर्वश्रेष्ठ परिणाम दिए हैं। नल-जल आपूर्ति , सीवरेज सिस्टम व जल के पुर्नउपयोग तथा स्ट्रीट लाइट के लिए किए जा रहे नवाचारों की जानकारी भी प्रस्तुतिकरण में दी गई। बैठक में पहले दो चरणों में चुनी गई प्रदेश की पाँच स्मार्ट सिटी क्रमश: भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर तथा उज्जैन में जारी गतिविधियों की जानकारी भी दी गई। स्वच्छ भारत मिशन, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन तथा प्रधानमंत्री आवास योजना पर भी प्रस्तुतिकरण दिया गया। केंद्रीय सचिव श्री मिश्रा ने नगरीय इकाईयों में प्राथमिकता के आधार पर पार्क विकसित करने तथा क्षमता विकास में उपयोगिता और आवश्यकता आधारित गतिविधियों जैसे प्लमबर, इलेक्ट्रिशियन, फीजियो थैरेपिस्ट आदि के प्रशिक्षण की व्यवस्था का विस्तार करने की आवश्यकता बतायी।


aaडीजल-पेट्रोल पर वैट में कमी : डीजल पर अतिरिक्त अधिभार समाप्त


13 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेशवासियों को बड़ी राहत देते हुए डीजल और पेट्रोल में लगने वाले वैट की दर में कमी करने की घोषणा की है। उन्होंने डीजल पर डेढ़ रूपये प्रति लीटर के अतिरिक्त अधिभार को भी समाप्त कर दिया है। यह दरें आज मध्यरात्रि से प्रभावशील होंगी। वैट कम होने से डीजल प्रति लीटर जो अभी 63 रूपये 31 पैसे में मिल रहा था, वह अब 59 रूपये 37 पैसे प्रति लीटर के भाव में मिलेगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आम जनता और किसानों की आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर उन्हें राहत देने के उद्देश्य से पेट्रोल और डीजल के भावों में कमी करने का यह निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि डीजल की कीमतें घटने से माल भाड़ा दरें कम होंगी और वस्तुएँ सस्ती होंगी। श्री चौहान ने बताया कि डीजल पर पाँच प्रतिशत वैट में कमी की गयी है। साथ ही डीजल पर लगने वाले अतिरिक्त अधिभार प्रति लीटर एक रूपये पचास पैसे को समाप्त कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि पेट्रोल पर लगने वाले वैट को भी तीन प्रतिशत कम कर दिया गया है।


aaआजकल सतवंती बाई के पाँव जमीं पर नहीं पड़ते


13 October 2017

बालाघाट जिले की मनरेगा की रेशम परियोजना की लाभार्थी सतवंती बाई के पाँव अब जमीन पर नहीं पड़ते। यह फिल्मी गीत जैसा भले ही लगता हो परन्तु है सच। सतवंती की खुशी उस समय देखते ही बनती थी जब प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने स्वयं उसकी सफलता के मॉडल को देखा और उसका राज भी जाना। यह वाक्या है अक्टूबर माह की 11 तारीख को नई दिल्ली स्थित पूसा के मेला मैदान का। प्रधानमंत्री श्री मोदी नानाजी देशमुख के जन्म शताब्दी समारोह के अंतर्गत लगी प्रदर्शनी को देखने आये थे। प्रधानमंत्री को सतवंती ने बताया कि रेशम की खेती से उसकी आय चौगुनी हो गई और उसके परिवार के अच्छे दिन आ गए हैं। प्रधानमंत्री के सामने मॉडल का प्रेजेंटेशन देते हुए बालाघाट जिले के बुदबुदा गाँव की सतवंती ने बताया कि वो पहले परम्परागत खेती में धान, ज्वार आदि की फसल उगाती थी, जिससे सालाना 30 से 35 हजार रुपये की आमदनी हो पाती थी। इतनी कम आय में परिवार की जरूरतें पूरी नहीं हो पाती थी। अब दो एकड़ जमीन में वह पहले से चौगुना मुनाफा कमा रही है। एक साल में चार बार रेशम का उत्पादन कर एक से सवा लाख रुपये सालाना आय हो रही है। इस आमदनी की बदौलत घर की सारी जरूरतें पूरी हो रही हैं। दोनों बच्चे अच्छी तरह पढ़-लिख पा रहे हैं। मेले में सतवंती बाई ने रेशम उपयोजना की सफलता का मॉडल प्रस्तुत कर मध्यप्रदेश का प्रतिनिधित्व किया। कार्यक्रम में सतवंती ने देश के कई राज्यों से आए प्रतिनिधियों को अपनी सफलता की दास्तान सुनाई। सतवंती का कहना है कि प्रदेश सरकार ने उसे मेले में भेजकर प्रतिनिधित्व करने का जो अवसर दिया, उससे वह खुश है। खुशी इस बात की भी है कि प्रधानमंत्री ने उसकी मेहनत को सराहा।


aaभागवती ने 102 गाँवों में 420 स्व-सहायता समूह गठित कराए


13 October 2017

शिवपुरी जिले की ग्राम कमरौआ निवासी भागवती चंदेल का परिवार कल तक दूसरे गाँवों में जाकर मजदूरी करता था। आज भागवती का बेटा गांव में ही अपनी दुकान चलाकर प्रतिमाह 6 से 8 हजार रूपये कमा रहा है। पति सीएलएफ के पद पर काम कर रहा है और 4 हजार 200 रूपये प्रतिमाह कमा रहा है। भागवती ने गाँव में ही दो बीघा जमीन ठेके पर लेकर टमाटर की खेती करना शुरू कर दी है। आज समाज में भागवती का सम्मान है, प्रतिष्ठा है। भागवती के जीवन में यह बदलाव स्व-सहायता समूह से जुड़ने के बाद आया है। पति के विरोध के बावजूद भागवती पास के गांव के संतोषी स्व-सहायता समूह से जुड़ी और सदस्य के रूप में 10 रुपये प्रति सप्ताह जमा करना शुरू किया। समूह से पहली बार 15 हजार रुपये का कर्ज लेकर बेटे की दुकान शुरू कराई। इसके बाद पति को सीएलएफ के पद पर लगवाया। वो अभी तक समूह से 6 लाख रुपये का ऋण ले चुकी है और ब्याज सहित लौटा भी रही है। साथ ही पांच दिवसीय ग्राम ज्योति प्रशिक्षण प्राप्त कर दूसरे गाँवों और जिलों में स्व-सहायता समूह बनाने का प्रशिक्षण दे रही है। आज तक भागवती लगभग 102 गाँवों में 420 स्व-सहायता समूह का गठन करवा चुकी है। इन समूहों के गठन से उसे मानदेय के रूप में 10 हजार से भी अधिक की राशि प्राप्त हुई है। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तथा शिवपुरी जिले के प्रभारी श्री रुस्तम सिंह हाल ही में जनपद पंचायत कोलारस के भ्रमण के दौरान भागवती के अटल इरादों और मेहनत की तारीफ की और उसे महिला सशक्तिकरण का प्रत्यक्ष प्रमाण बताया। मंत्री श्री सिंह ने भागवती को 11 हजार रुपये का पुरस्कार देने की घोषणा भी की है।


aaजुनून और जज्बे से हर क्षेत्र में जीत तय : खेल मंत्री श्रीमती सिंधिया


12 October 2017

खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा है कि हर क्षेत्र में जीत हासिल करने के लिए जुनून और जज्बा आवश्यक होता है। दृढ़ विश्‍वास से ही सफलता हासिल होती है। श्रीमती सिंधिया ने आज नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी की वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता 'विरूद्धका-9' के शुभारंभ के मौके पर कही। खेल मंत्री ने मध्यप्रदेश में खेलों के संदर्भ में जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश के खिलाड़ी आज हॉकी, सेलिंग, घुड़सवारी, शूटिंग जैसे खेलों में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मैडल हासिल कर लगातार देश, प्रदेश तथा अकादमी का नाम रौशन कर रहे हैं। उन्होंने प्रतियोगी खिलाड़ियों को शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि भविष्य में लॉ केम्पस से भी हमें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पदक हासिल करने वाले खिलाड़ी मिलेंगे। इस अवसर पर एनएलआईयू के निदेशक प्रोफेसर डॉ. एस.एस. सिंह, खेल इंचार्ज श्री बलजीत सिंह तथा रजिस्ट्रार श्री रवि पाण्डे उपस्थित थे।


aaबेटियों की निरंतर पढ़ाई की व्यवस्था के लिये मध्यप्रदेश में कानून बनेगा


12 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि लाड़ली लक्ष्मी बेटियों की निरंतर पढ़ाई की व्यवस्था के लिये कानून बनाया जाएगा। बेटियाँ पृथ्वी पर ईश्वर का सबसे बड़ा उपहार हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ मुख्यमंत्री निवास पर लाड़ली शिक्षा पर्व के छात्रवृत्ति वितरण समारोह को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस उपस्थित थीं। प्रदेशभर में आज 65 हजार लाड़ली लक्ष्मी बेटियों को छात्रवृत्ति वितरित की गई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में बेटियों के नियमित स्वास्थ्य परीक्षण की व्यवस्था की जाएगी। बेटियाँ चाहें तो आसमान छू सकती हैं। बेटियाँ ऐसे गुणों का विकास करें जिससे पूरी दुनिया में उनका नाम हो। आज मध्यप्रदेश में 26 लाख 30 हजार लाड़ली लक्ष्मी बेटियाँ हैं। इनके 21 वर्ष के होने पर उनके परिवारों को 31 हजार करोड़ रुपये मिलेंगे। लाड़ली लक्ष्मी योजना में बेटियों के लिये छात्रवृत्ति की व्यवस्था की गई है। प्रदेश की बेटियों को 12वीं कक्षा में 85 प्रतिशत लाने पर लेपटॉप और कॉलेज में प्रवेश लेने पर स्मार्ट फोन दिया जाता है। कक्षा 12 की परीक्षा में 75 प्रतिशत से अधिक अंक लाने के बाद महाविद्यालय में प्रवेश लेने पर उनकी फीस मेधावी विद्यार्थी योजना से भरी जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बेटियों में असीम संभावनाएँ हैं। बेटियाँ चाहें, तो आसमाँ छू सकती हैं। बेटियाँ हमेशा माता-पिता और गुरुजनों का सम्मान करें। बेटियाँ मध्यप्रदेश की ताकत हैं। बेटियों को पुलिस विभाग की भर्ती में 33 प्रतिशत तथा शिक्षकों की भर्ती में 50 प्रतिशत का आरक्षण दिया गया है। स्थानीय निकायों में बेटियों को 50 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है। उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग की भर्ती में बेटियों को ऊँचाई में छूट दी जाएगी। बेटियों के नियमित स्वास्थ्य परीक्षण की व्यवस्था की जाएगी। बेटियों के लिये पाठ्य-पुस्तक, गणवेश और साईकिल प्रदाय की योजना क्रियान्वित की जा रही है। प्रतिभाशाली बेटियों के लिये गाँव की बेटी और प्रतिभा किरण योजना चलायी जा रही है। मुख्यमंत्री ने श्रीमती विजयाराजे सिंधिया का श्रद्धापूर्वक स्मरण किया। महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती चिटनिस ने कहा कि आज 65 हजार से अधिक लाड़ली लक्ष्मी बेटियों ने कक्षा 6वीं में प्रवेश लिया है। इन्हें दो-दो हजार रुपये की छात्रवृत्ति आज वितरित की जा रही है। इन्हें कक्षा नौवीं में 4 हजार तथा कक्षा 11वीं में प्रवेश लेने पर 6 हजार रुपये की छात्रवृत्ति दी जाएगी। लाड़ली लक्ष्मी योजना के सफल 11 वर्ष पूरे हो गये हैं। जिस देश और प्रदेश में बेटियों का सम्मान होता है, वह आगे बढ़ता है। मध्यप्रदेश में बेटियों को केन्द्र में रख कर विकास किया गया है। बेटियों को अवसर मिले तो वे दुनिया में प्रदेश का नाम रौशन करने की क्षमता रखती हैं। आज प्रदेश में बेटियों के जन्म पर खुशियाँ मनायी जाती हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कक्षा 6वीं में प्रवेश लेने वाली लाड़ली लक्ष्मी बेटियों को प्रतीक स्वरूप छात्रवृत्ति के प्रमाण-पत्र वितरित किये। स्वागत भाषण आरंभ में महिला-बाल विकास श्री जे.एन. कंसोटिया ने दिया। कार्यक्रम में राज्य बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष श्री राघवेन्द्र शर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री मनमोहन नागर और मुख्यमंत्री की पत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान सहित बड़ी संख्या में योजना से लाभान्वित बेटियाँ और उनके माता-पिता उपस्थित थे। आयुक्त महिला सशक्तिकरण श्रीमती जयश्री कियावत ने आभार माना।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा किसानों से भावांतर भुगतान योजना में पंजीयन कराने की अपील


11 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भावांतर भुगतान योजना का ग्रामीण क्षेत्रों में व्यापक प्रचार-प्रसार कर अधिकाधिक किसानों का पंजीयन किया जाय। इसके लिए गाँवों में मुनादी करवाई जाए तथा प्रचार माध्यमों का समुचित उपयोग भी किया जाए। मुख्यमंत्री ने बताया कि 12 अक्टूबर को वे स्वयं रेडियो के माध्यम से विशेष ग्राम-सभाओं में किसानों से प्रातः 11 बजे चर्चा करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान सीहोर जिला मुख्यालय पर आयोजित किसान सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि योजना का लाभ पंजीयन कराने वाले किसानों को ही मिल सकेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 16 अक्टूबर 2017 को सागर जिले में खुरई तहसील मुख्यालय पर योजना का शुभारंभ करेंगे। उन्होंने कहा कि किसानों को उनकी उपज की वाजिब कीमत दिलाने के लिए ही भावांतर भुगतान योजना आरंभ की गई है। इस योजना में दलहनी, तिलहनी और उद्यानिकी फसलों का किसानों को उचित मूल्य दिलवाने के लिए घोषित माडल दर के अंतर की राशि प्रतिपूर्ति के रूप में सीधे किसान के खाते में जमा कराई जाएगी। श्री चौहान ने जरूरत के मुताबिक क्राप-पैटर्न बदलने की सलाह देते हुए किसानों से कहा कि खेती के लिए उपलब्ध संसाधनों का अधिकतम उपयोग करें। श्री चौहान ने कहा कि पार्वती नदी को नदी जोड़ो अभियान में शामिल किया गया है। किसानों को सिंचाई के लिए पानी अब नहरों के स्थान पर पाइप लाइनों के माध्यम से उपलब्ध कराया जायेगा, क्योंकि नहरों से सिंचाई में काफी मात्रा में पानी व्यर्थ हो जाता है। उन्होंने कहा कि छोटी सिंचाई योजनाएं बनाने पर जोर दिया जायेगा ताकि उपलब्ध जल का अधिकतम उपयोग हो सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि बेघर परिवारों का सर्वेक्षण कर उन्हें जमीन दी जाएगी। आवास बनाने के लिए राशि भी उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि अकेले सीहोर जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना में इस वर्ष 19 हजार मकान बनाकर पात्र लोगों को दिये जा रहे हैं। अगले साल जिले में 20 हजार मकान बनाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि हर पात्र परिवार को उज्ज्वला योजना में गैस कनेक्शन देने का काम पूरे प्रदेश में चल रहा है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर सीहोर तथा इछावर विकासखंड में 66 करोड़ रूपये लागत के 29 कार्यो का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। उन्होंने जिले में स्वच्छता ही सेवा अभियान के दौरान उत्कृष्ट कार्य करने वाली 108 संस्थाओं को 12.75 लाख रूपये प्रोत्साहन राशि का वितरण किया तथा 101 हितग्राहियों को प्रधानमंत्री आवास योजना में गृह प्रवेश के लिए चाबी सौंपी। मुख्यमंत्री ने कन्या महाविद्यालय सीहोर में अगले शैक्षणिक सत्र से स्नात्कोत्तर कोर्स चालू करने की घोषणा की। कार्यक्रम में लोक निर्माण मंत्री एवं जिले के प्रभारी श्री रामपाल सिंह, सांसद श्री आलोक संजर, विधायक श्री सुदेश राय एवं श्री रंजीत सिंह गुणवान, वन विकास निगम के अध्यक्ष श्री गुरू प्रसाद शर्मा, मार्कफेड अध्यक्ष श्री रमाकांत भार्गव, वेयर हाउसिंग अध्यक्ष श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती उर्मिला मरेठा, आदि उपस्थित थे।


aaछात्रावासों में बच्चों के साथ अपनेपन का व्यवहार हो : राज्य मंत्री श्री आर्य


11 October 2017

अनुसूचित-जाति कल्याण एवं जनजाति कार्य राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने आज भोपाल एवं नर्मदापुरम संभाग में विभाग द्वारा संचालित योजनाओं की बिन्दुवार विस्तृत समीक्षा की। श्री आर्य ने अधिकारियों से कहा कि छात्रावासों में सफाई, पुताई, बिजली, पानी, रहने एवं खाने की व्यवस्था बच्चों की संख्या के अनुसार सुनिश्चित की जाए। आकस्मिक निरीक्षण के दौरान अव्यवस्था पाए जाने पर संबंधित के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि बच्चों के साप्ताहिक मीनू को रुचिकर बनाया जाए। जिला एवं संभाग स्तर पर अधिकारी स्वयं छात्रावासों का नियमित रूप से निरीक्षण कर टीप प्रस्तुत करें। श्री आर्य ने कहा कि छात्रावासों के बच्चों की प्रतिभा को निखारने के लिए पाठयक्रम के अतिरिक्त भी रचनात्मक गतिविधियां संचालित की जाएं। बच्चों के लिए निबंध, भाषण, वाद-विवाद, खेल-कूद आदि प्रतियोगिता आयोजित कर विजेताओं को पुरस्कृत किया जाए। बच्चों की रचनाओं को सराहा जाए। पुस्तकालयों में रुचिकर एवं प्रेरणादायी पुस्तकें हों जिन्हें बच्चे उत्सुकता एवं रुचि के साथ पढ़ें। बच्चों को नियमित रूप से सांस्कृतिक, धार्मिक एवं प्राकृतिक पर्यटन-स्थलों की सैर भी कराई जाए। श्री आर्य ने बच्चों के सम्पूर्ण विकास के लिए समन्वित कारगर प्रयास करने के निर्देश दिये। मंत्री श्री आर्य ने समीक्षा के दौरान कहा कि छात्रवृत्ति एवं आवास-भत्ते के प्रकरणों का शत-प्रतिशत निराकरण करें। निर्माण कार्यों का नियमित रूप से निरीक्षण करें तथा कार्यों को समयावधि में पूर्ण कराएं। स्वयंसेवी एवं समाज-सेवी संस्थाओं और संगठनों को छात्रावास एवं बच्चों से जोड़ें। बैठक में प्रमुख सचिव श्री एस.एन. मिश्रा एवं दोनों संभागों के अधिकारी उपस्थित थे।


aaउद्योग संवर्द्धन नीति-2014 में संशोधन की मंजूरी


11 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में जीएसटी व्यवस्था लागू होने के बाद उद्योग संवर्द्धन नीति 2014 में संशोधन की मंजूरी दी गई। प्रदेश में वृहद निवेश प्रस्तावों को आकर्षित करने के लिए कर आधारित सुविधाओं के स्थान पर पूँजी निवेश, रोजगार सृजन एवं निर्यात संवर्द्धन को आधार बनाकर लागत पूँजी अनुदान की योजना 'निवेश प्रोत्साहन सहायता' के नाम से लाई गई है। इस सुविधा अंतर्गत 10 से 40 प्रतिशत तक लागत पूँजी अनुदान दिया जायेगा, जो छोटे निवेशकों को अधिकतम 40 प्रतिशत होगा। जबकि बड़े निवेशकों को 10 प्रतिशत के स्लेब में रखा गया है। वृहद रोजगार सृजन करने वाले एवं निर्यातोन्मुखी उद्योगों को निवेश प्रोत्साहन सहायता अंतर्गत अतिरिक्त सुविधा दी जायेगी।
लोक निर्माण विभाग के 4633 अस्थाई पद स्थायी-
मंत्रि-परिषद ने लोक निर्माण विभाग के 4633 अस्थाई पदों को विभाग की आवश्यकता और निरंतरता को देखते हुए स्थायी करने का निर्णय लिया है।
विशेष पैकेज-
मंत्रि-परिषद ने कुण्डालिया वृहद सिंचाई परियोजना के विस्थापितों को विशेष पुर्नवास पैकेज का लाभ देने का निर्णय लिया। परियोजना राजगढ़ जिले की जीरापुर तहसील में निर्माणाधीन है। इस विशेष पैकेज से 81 करोड 9 लाख का अतिरिक्त लाभ 5994 विस्थापित परिवारों को प्राप्त होगा।
राज्य विधि आयोग का पुनर्गठन-
मंत्रि-परिषद ने राज्य विधि आयोग को पुनर्जीवित करने का निर्णय लिया। राज्य में विधि आयोग का पुनर्गठन कर उसके सुचारु संचालन के लिए 30 पद के सृजन की मंजूरी दी गई।
आनंद संस्थान के लिए अतिरिक्त 8 पद-
मंत्रि-परिषद ने राज्य आनंद संस्थान की पद संरचना तथा कार्यपालन समिति की संरचना में परिवर्तन तथा संशोधन की मंजूरी दी। संस्थान के लिए अतिरिक्त 8 पद के सृजन की अनुमति दी गई। संस्थान की सामान्य सभा को कार्यपालन समिति की संरचना में बदलाव का अधिकार भी दिया गया। संस्था की उपविधियों में सभी आवश्यक संशोधन करने के लिए आवश्यक अधिकार सामान्य सभा को देने का निर्णय भी किया गया।
शासकीय भूमि आवंटित-
मंत्रि-परिषद ने महाप्रबंधक परियोजना एनटीपीसी लिमिटेड खरगोन का प्रस्ताव 2x660 मेगावाट की विद्युत परियोजना के लिए रेलवे पथ निर्माण के लिए तहसील सनावद जिला खरगोन के 21 ग्रामों की कुल 23.180 हेक्टेयर शासकीय भूमि वर्ष 2017-18 की कलेक्टर गाइड लाइन अनुसार प्रीमियम तथा उस पर 7.5 प्रतिशत भू -भाटक लेकर आवंटित करने का निर्णय लिया।
पुरस्कार एवं प्रोत्साहन योजना-
मंत्रि-परिषद ने उच्च शिक्षा विभाग की प्रचलित योजना 'पुरस्कार एवं प्रोत्साहन योजना' को तीन वर्ष में अनुमानित व्यय भार 875 लाख की स्वीकृति एवं योजना को निरंतर रखने की सैद्धांतिक स्वीकृति दी है।
संत श्री सेवालाल महाराज पुरस्कार-
मंत्रि-परिषद ने विमुक्त, घुमक्कड़ एव अर्द्ध घुमक्कड़ जनजाति के उत्थान के लिए उत्कृष्ट कार्य करने वाले समाज सेवक को पुरस्कार योजना नियम 2014 का नामकरण 'संत श्री सेवालाल महाराज' करने की मंजूरी दी।


aaकिसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ दिलाने में तत्परता बरतें


11 October 2017

जनसम्पर्क, जल संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कृषि विभाग और बीमा कम्पनियों के अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि कमजोर वर्षा की स्थिति के कारण किसानों को हुए नुकसान की भरपाई के लिये उन्हें प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ दिलाने में तत्परता बरतें। डॉ. मिश्र ने कहा कि प्रारंभिक आकलन के अनुसार दतिया जिले में खरीफ सीजन में लगभग 7 हजार किसान प्रभावित हुए हैं। इन किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत लगभग 8 करोड़ रुपये की राशि दी जाएगी। डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कहा कि पिछले वर्ष दतिया जिला किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ दिलाने में अग्रणी रहा। जिले के प्रभावित किसानों को करीब 62 करोड़ रुपये की राशि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत राहत स्वरूप प्रदान की गई। उन्होंने कहा कि इस वर्ष भी कमजोर वर्षा से किसानों की फसलों को हुए नुकसान की भरपाई के लिये राज्य सरकार कृत-संकल्पित है।
डॉ. मिश्र युवक-युवती परिचय सम्मेलन में आमंत्रित-
जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र से आज अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज के प्रतिनिधि मंडल ने भेंट कर उज्जैन में 24 दिसम्बर 2017 को होने वाले युवक-युवती परिचय सम्मेलन में शामिल होने के लिये आमंत्रित किया। डॉ. मिश्र ने प्रतिनिधि मंडल से भेंट के दौरान अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज द्वारा प्रकाशित ब्रोशर का विमोचन किया।


aaभूमि-पूजन के बाद तुरंत कार्य शुरू करे


11 October 2017

भूमि-पूजन के बाद तुरंत कार्य शुरू करवायें। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने यह निर्देश नगर निगम द्वारा संचालित कार्यों की समीक्षा के दौरान दिये। श्री गुप्ता ने कहा कि समय पर अनुबंध और कार्य नहीं करने वाले ठेकेदारों के विरुद्ध कार्यवाही करें। उन्होंने कहा कि विधायक निधि के कार्यों की समीक्षा प्रतिमाह कमिश्नर नगर निगम स्वयं करें। श्री गुप्ता ने कहा कि प्रत्येक विधानसभा के लिये अपर आयुक्त स्तर के अधिकारी को नोडल आफिसर बनाया जाये। श्री गुप्ता ने वार्ड 28 और कोटरा में सीवरेज सिस्टम ठीक करवाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत समय-सीमा में करवायें। पंचशील नगर की मुख्य रोड को चौड़ा करने का प्रस्ताव बनाएं। श्री गुप्ता ने कहा कि पेयजल के लिये टैंकर पर निर्भरता खत्म करें। बैठक में नगर निगम कमिश्नर श्रीमती प्रियंका दास एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


aaप्रदेश की प्रतिभाओं का स्थापना सप्ताह में जिला और राज्य स्तर पर होगा सम्मान


10 October 2017

वित्त एवं वाणिज्यिक कर मंत्री श्री जयंत मलैया की अध्यक्षता में मध्यप्रदेश स्थापना सप्ताह के आयोजन के लिए गठित समिति की बैठक आज मंत्रालय में सम्पन्न हुई। बैठक में समिति के सदस्य महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस, राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता और जनसम्पर्क मंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा मौजूद थे। समिति ने सर्व सम्मति से अनुशंसा की कि मध्यप्रदेश की स्थापना सप्ताह के इस वर्ष के कार्यक्रम में प्रदेश की प्रतिभाओं को सम्मानित किया जाये। जिले की ऐसी प्रतिभाएँ जिन्होंने पिछले तीन साल में प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर पर उपलब्धि प्राप्त कर प्रदेश का नाम रोशन किया हो उन्हें सम्बन्धित जिला स्तरीय आयोजन में और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उपलब्धि करने वाली प्रतिभाओं को भोपाल में राज्य स्तरीय आयोजन में सम्मानित किया जाए। जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने स्थापना दिवस के दिन मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का संदेश भोपाल से सभी जिलों में लाइव प्रसारित करवाने का सुझाव दिया। बैठक में अपर मुख्य सचिव जेल और समिति के समन्वयक श्री विनोद सेमवाल समिति सदस्य अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा श्री वी.आर. नायडू, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री एस.के. मिश्रा और श्री अशोक वर्णवाल एवं प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती दीप्ति गौड़ मुखर्जी उपस्थित थे।


aaनर्मदा कालीसिंध लिंक परियोजना को प्रशासकीय स्वीकृति मिली


10 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में सम्पन्न नर्मदा नियंत्रण मण्डल की महत्वपूर्ण बैठक में नर्मदा घाटी में प्रस्तावित 14 हजार 600 करोड़ रूपये लागत की विभिन्न परियोजनाओं के निर्माण के लिये प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई। अनुमोदित परियोजनाओं में मालवांचल के लिये प्रस्तावित महत्वाकांक्षी नर्मदा कालीसिंध लिंक परियोजना भी शामिल है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने कुछ समय पूर्व मालवांचल के लिये इस परियोजना के निर्माण की घोषणा की थी। दो चरणों में निर्मित होने वाली इस परियोजना से देवास, शाजापुर, सीहोर और राजगढ जिले के 366 गांवो की 2 लाख हेक्टेयर कृषि भूमि सिंचित होगी। मालवांचल के लिये ही अनुमोदित नर्मदा क्षिप्रा लिंक बहुउद्देशीय परियोजना से देवास, उज्जैन, नागदा, मक्सी, शाजापुर, घटिया तथा तराना क्षेत्र में 30 हजार हेक्टेयर में सिंचाई होगी। नियंत्रण मण्डल ने मोरण्ड एवं गंजाल संयुक्त सिंचाई परियोजना के लिये भी प्रशासकीय स्वीकृति दी है। इस परियोजना से होशंगाबाद, हरदा तथा खण्डवा जिलों में 52 हजार 205 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। नर्मदा नियंत्रण मण्डल ने नागलवाडी उद्वहन, किल्लोद उद्वहन, पाटी उद्वहन, कोदवार उद्वहन, पिपरी उद्वहन, भुरलाय उद्वहन, पामाखेडी उद्वहन माईक्रो सिंचाई योजनाओं को भी प्रशासकीय स्वीकृति दी। इन उद्वहन माईक्रो सिंचाई परियोजनाओं से 67 हजार 132 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। नर्मदा नियंत्रण मण्डल द्वारा अनुमोदित परियोजनाओं पर 14 हजार 600 करोड रूपये का व्यय अनुमानित है। मुख्यमंत्री ने इन परियोजनाओं के निर्माण के लिये सभी औपचारिकतायें प्राथमिकता से पूरी करने के निर्देश दिये हैं। बैठक में नर्मदा घाटी विकास मंत्री श्री लाल सिंह आर्य, राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, ऊर्जा मंत्री श्री पारसचन्द्र जैन, लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह और किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन, नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री राकेश साहनी तथा उपाध्यक्ष श्री रजनीश वैश भी उपस्थित थे।


aaजनसम्‍पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने श्री संजय तिवारी के स्वास्थ की जानकारी ली


10 October 2017

जनसम्‍पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र भोपाल में इलाज करवा रहे दतिया निवासी श्री संजय तिवारी से मिलने अस्पताल गये। डॉ. मिश्र ने श्री तिवारी के उपचार के बारे में चिकित्सकों से बातचीत की। जनसम्पर्क मंत्री ने श्री संजय तिवारी के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है।


aaग्रामीण क्षेत्रों में भी लागू होगी ठोस अपशिष्ट प्रबंधन व्यवस्था


10 October 2017

ग्रामीणों के जीवन-स्तर एवं स्वास्थ्य में गुणात्मक सुधार तथा गंदगी-मुक्त मध्यप्रदेश की अवधारणा को क्रियान्वित करने के उद्देश्य से अब ग्रामीण क्षेत्रों में भी ठोस अपशिष्ट प्रबंधन व्यवस्था लागू की जाएगी। यह निर्णय 'गंदगी-मुक्त मध्यप्रदेश'' समिति की आज सम्पन्न बैठक में लिया गया। बैठक में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव और नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह उपस्थित थीं। बैठक में जानकारी दी गई कि ग्रामीण क्षेत्रों में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के लिए प्रदेश के 51 हजार 714 गाँवों को लगभग 2500 समूहों में बाँट कर क्लस्टर आधारित योजना का संचालन किया जाएगा। स्थानीय युवाओं को स्वच्छता सेवी के रूप में मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना के तहत वाहन खरीदने के लिए आर्थिक सहायता दी जाएगी। लाभार्थी स्वच्छता सेवियों के साथ कचरा संग्रहण, परिवहन, पृथक्कीकरण और प्र-संस्करण का तीन वर्ष के लिए अनुबंध किया जाएगा। शासन द्वारा इन सेवियों को प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाएगा। ग्रामीण ठोस अपशिष्ट प्रबंधन व्यवस्था के तहत क्लस्टर स्तर पर ही कचरे का संग्रहण, परिवहन, पृथक्कीकरण और प्र-संस्करण की व्यवस्था होगी तथा शासन द्वारा क्लस्टर स्तर पर पृथक्कीकरण एवं प्र-संस्करण केन्द्र का निर्माण किया जाएगा। साथ ही शासन द्वारा जनपद स्तर पर प्लास्टिक प्र-संस्करण केन्द्र की भी स्थापना की जाएगी। प्लास्टिक कचरे के प्र-संस्करण एवं विपणन के लिए महिला स्व-सहायता समूह को प्रशिक्षित किया जाएगा।
कचरे का संग्रहण एवं परिवहन-
स्वच्छता सेवी द्वारा आबंटित क्लस्टर के गाँवों में निर्धारित समय एवं स्थान पर कचरे का संग्रहण किया जाएगा। संग्रहीत कचरे को स्वच्छता वाहन के माध्यम से पृथक्कीकरण एवं प्र-संस्करण केन्द्र पर लाया जाएगा, जिसमें कचरे का वजन कर रजिस्टर में दर्ज किया जाएगा। क्लस्टर के प्रत्येक परिवार से 5-10 रुपये एवं दुकानों और संस्थानों से 20-25 रुपये प्रति माह सेवा शुल्क लिया जाएगा। विवाह और अन्य सामाजिक/पारिवारिक आयोजनों में एकमुश्त 100 रुपये सेवा शुल्क आयोजको से लिया जाएगा।
कचरा प्र-संस्करण और निष्पादन-
ग्रामीण क्षेत्रों के स्वच्छता सेवी क्लस्टर स्तर पर ही जैविक कचरे का विभिन्न प्र-संस्करण तकनीक के माध्यम से उपचार कर जैविक खाद का उत्पादन करेंगे, जो स्थानीय किसानों को 10 रुपये प्रति किलो की दर से 5 किलो की थैलियों में उपलब्ध होगा। जनपद पंचायत द्वारा निविदा प्रक्रिया के माध्यम से पुनर्चक्रण योग्य वस्तुओं के क्रय मूल्य तथा क्रयकर्ता का निर्धारण किया जाएगा। कचरे के निष्पादन में अजैविक तथा पुनर्चक्रण योग्य कचरे को अलग किया जाएगा। जैविक खाद तथा पुनर्चक्रण योग्य कचरे के विक्रय से हुई आय स्वच्छता सेवी को लाभांश के रूप में प्राप्त होगी। अजैविक तथा पुनर्चक्रण हेतु अयोग्य कचरे का निष्पादन विशेष रूप से खोदे गए गड्ढे में वैज्ञानिक तरीके से किया जाएगा। प्लास्टिक के कचरे को प्लास्टिक प्र-संस्करण केन्द्र पर विभिन्न तकनीक से उपचारित कर निष्पादित किया जाएगा। इसके विक्रय से हुई आय स्व-सहाया समूह की महिलाओं को लाभांश के रूप में मिलेगी। पंचायत सचिव तथा जनपद के मुख्य कार्यपालन अधिकारी इसकी नियमित निगरानी करेंगे। बैठक में अपर प्रमुख सचिव, पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री आर.एस. जुलानिया, प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री मनोज गोविल, प्रमुख सचिव जल-संसाधन श्री पंकज अग्रवाल तथा सचिव नगरीय विकास श्री विवेक अग्रवाल उपस्थित थे।


aa30 नवम्बर तक होगी क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत


10 October 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने दक्षिण-पश्चिम विधानसभा क्षेत्र की सड़कों की स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि रंगमहल से पलाश होटल तक सड़क का चौड़ीकरण करें। मुख्य अभियंता लोक निर्माण विभाग श्री वैद्य ने बताया कि 30 नवम्बर तक सभी क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत करवा दी जाएगी। राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने जवाहर चौक से एम.एल.ए. क्वार्टर होते हुए गुरू तेगबहादुर काम्प्लेक्स तक सड़क के चौड़ीकरण का प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने यूनिक कॉलेज से 12 दफ्तर होते हुए वार्ड-25 तक सड़क, वायरलेस कॉलोनी, 57 की लाइन और 64 की लाइन की सड़कों की मरम्मत करवाने के निर्देश दिए। श्री गुप्ता ने हॉक फोर्स आफिस पहुंच मार्ग और 64 की लाईन के अन्दर से प्रेमपुरा मार्ग के निर्माण के भी निर्देश दिए। बैठक में लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण यंत्री श्री खांडे और कार्यपालन यंत्री श्री पंकाज व्यास उपस्थित थे।


गुरु गोविंद सिंह' सभागार में होगी संघ की बैठक
Our Correspondent :9 October 2017
भोपाल, 9 अक्टूबर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक के लिए शारदा विहार, भोपाल में तैयारियां लगभग पूर्ण हो रही हैं। बैठक कक्ष का नाम गुरु गोविंद सिंह के नाम पर रखा गया है। गुरु गोविंद सिंह का यह 350वां जयंती वर्ष है। तीन दिवसीय बैठक के दौरान कार्यकारी मंडल द्वारा संघ के कार्यों की समीक्षा की जाएगी और देश के समसामयिक विषयों पर विचार किया जाएगा। संघ के मध्यभारत प्रांत के प्रचार प्रमुख दीपक शर्मा ने प्रेसवार्ता में यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक के लिए सभी आगंतुक 11 अक्टूबर की शाम तक भोपाल आ जाएंगे। बैठक का उद्घाटन 12 अक्टूबर को सुबह और समापन 14 अक्टूबर को होगा। संघ के सरसंघचालक माननीय डॉ. मोहन भागवत और सरकार्यवाह माननीय सुरेश भैय्याजी जोशी भोपाल आ चुके हैं। सहसरकार्यवाह मा. सुरेश सोनी, मा. डॉ. कृष्ण गोपाल, मा. दत्तात्रेय होसबाले और मा. वि. भागय्या भी शारदा विहार आ चुके हैं। उन्होंने बताया कि अखिल कार्यकारी मंडल एवं क्षेत्र प्रचारकों की बैठक 10 अक्टूबर होगी। वहीं, 11 अक्टूबर को प्रांत प्रचारक भी बैठक में शामिल हो जाएंगे। बैठक स्थल पर एक प्रदर्शनी का आयोजन भी किया जा रहा है। प्रदर्शनी में पद्मभूषण कुशोक बकुल रिनपोछे के जीवन दर्शन को दिखाया जाएगा। यह उनका जन्मशताब्दी वर्ष है। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में शिक्षा के प्रसार और समाज सुधार के लिए महत्वपूर्ण कार्य किया। इसके साथ ही 350वीं जयंती के उपलक्ष्य में गुरु गोविंद सिंह और 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में भगिनी निवेदिता के जीवन दर्शन को भी प्रदर्शित किया जाएगा। संघ के संस्थापक डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार के संबंध में भी चित्र प्रदर्शित किए जाएंगे। प्रांत प्रचार प्रमुख श्री शर्मा ने बताया कि बैठक में देशभर के 11 क्षेत्रों और 42 प्रांतों से संघ के लगभग 300 प्रतिनिधि कार्यकर्ता शामिल होंगे। इनमें प्रांत संघचालक एवं प्रांत प्रचारक स्तर तक के अधिकारी शामिल हैं। उन्होंने बताया कि बैठक में संघ की कार्ययोजना पर विमर्श होगा। पिछले छह माह में संघ के काम का कितना विस्तार हुआ, इस संबंध में प्रांत के अधिकारी वृत्त प्रस्तुत करेंगे। संघ की शाखाओं, मिलन और मंडलों की अद्यतन जानकारी एकत्र की जाएगी। पिछले समय में संघ ने जिन सामाजिक कार्यों को विशेष तौर पर अपनी कार्ययोजना में शामिल किया था, उनका भी मूल्यांकन किया जाएगा। बैठक की और अधिक जानकारी के लिए 11 अक्टूबर को शाम 4 बजे कार्यक्रम स्थल पर प्रेसवार्ता का आयोजन किया जाएगा।


aaप्रदेश में 1650 ग्राम नल-जल योजनाएं शुरु होगी : मुख्यमंत्री श्री चौहान


9 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मुख्यमंत्री ग्राम नल-जल योजना में प्रस्तावित सभी 1650 नल-जल योजनाएं अभियान के रूप में आगामी फरवरी माह तक शुरु की जाएं। प्रदेश के हर गांव में और हर घर में बिजली उपलब्ध करायी जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहां प्रगति ऑन लाइन वीडियो कान्फ्रेंस के तहत बड़ी परियोजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा कर रहे थे। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रस्तावित सभी नल-जल योजनाओं के लिये पेयजल स्रोत विकसित करने का काम आगामी जनवरी माह तक पूरा कर लिया जाए। प्रदेश के सभी घरों में बिजली पहुंचाने के लिये युद्ध-स्तर पर काम करें। प्रधानमंत्री आवास योजना में गरीब हितग्राहियों को आवास उपलब्ध कराने का कार्य प्राथमिकता से करें। बड़ी सड़क परियोजनाओं की प्रगति की जानकारी लेते हुए मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये की सिवनी-कटंगी सड़क का निर्माण समय-सीमा में पूरा किया जाए। मेडिकल कॉलेज रतलाम को आगामी 2018 सत्र से शुरु करने के लिये निर्माण कार्यों के साथ रिक्त पदों की पूर्ति का काम प्राथमिकता से पूरा करें। प्रदेश में निर्माणाधीन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों के भवनों का निर्माण आगामी मार्च 2018 तक पूरा किया जाए। इस मौके पर बताया गया कि प्रदेश के 2 हजार 379 ग्रामों के लिये 1650 ग्राम नलजल योजनाएं प्रथम चरण में बनायी जाएगी। प्रदेश में दस एकलव्य आवासीय विद्यालयों के भवन निर्माणाधीन हैं। वर्तमान में 23 जिलों में 35 एकलव्य आवासीय विद्यालय भवन हैं। दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना में प्रदेश में 23 सब-स्टेशन बनाये जा रहे हैं। तरपेड मध्यम सिंचाई परियोजना की मुख्य नहर निर्माण का कार्य आगामी 15 जून तक पूरा हो जाएगा। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत कटनी में 4 हजार 362, बालाघाट में 1 हजार 404, सिवनी में 1 हजार 210 और रतलाम में 8 हजार 560 हितग्राहियों को आवास उपलब्ध कराये जाएंगे। सिवनी में वर्ष 2005 में गृह निर्माण मंडल द्वारा बनाये गए बायपास को लोक निर्माण विभाग को सौंपा जाएगा। प्रदेश में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भवनों के स्वीकृत 344 कार्यों में से 325 पूर्ण हो गये हैं।
भावांतर भुगतान योजना में पंजीयन के लिये विशेष ग्रामसभा-
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संभागायुक्तों और कलेक्टरों को निर्देश दिये की भावांतर भुगतान योजना में पंजीयन के लिये आगामी 12 अक्टूबर को सभी पंचायतों में विशेष ग्राम सभाएं आयोजित की जाएं। भावांतर भुगतान योजना में किसानों के पंजीयन के लिये युद्ध-स्तर पर अभियान चलाएं। आगामी 15 अक्टूबर तक सभी पात्र किसानों का पंजीयन सुनिश्चित करें। भावांतर भुगतान योजना राज्य सरकार की किसानों के हित में महत्वाकांक्षी योजना है। अब तक योजना में 6 लाख 34 हजार किसानों का पंजीयन हुआ है। यह योजना आगामी 16 अक्टूबर से प्रदेश में लागू हो रही है। इस दिन प्रदेश की 257 मंडियों में योजना की शुरुआत के लिये कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे। उन्होंने आगामी 1 नवम्बर को मध्यप्रदेश स्थापना दिवस को भव्यरूप से मनाने के निर्देश दिये। प्रदेश में आगामी 12 अक्टूबर को आयोजित होने वाले लाड़ली लक्ष्मी पर्व को समारोह पूर्वक मनाने के निर्देश दिये। श्री चौहान ने लोक सेवा प्रदाय गारंटी अधिनियम के तहत निश्चित समय सीमा में सेवाएं प्रदाय की मॉनीटरिंग करने के लिये कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि नर्मदा सेवा मिशन के तहत संबंधित विभागों द्वारा किये गये कार्यों की समीक्षा आगामी 12 अक्टूबर की जाएगी। वीडियो कान्फ्रेसिंग के दौरान अपर मुख्य सचिव वन श्री दीपक खाण्डेकर, अपर मुख्य सचिव ऊर्जा श्री इकबाल सिंह बैंस, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल तथा संबंधित विभागों के प्रमुख सचिव भी उपस्थित थे।


aaमध्यप्रदेश की भूमि वास्तव में रत्नगर्भा है - श्री राजेन्द्र शुक्ल


9 October 2017

खनिज एवं उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने आज मुबई में खनिज विभाग तथा भारतीय खनिज उद्योग फेडरेशन द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित खनिज नीलामी पूर्व बैठक में कहा कि म.प्र. एक रत्नगर्भा राज्य है, जहां कोयला, चूना पत्थर, लौह अयस्क, बॉक्साइट तथा हीरे के प्रचुर भण्डार उपलब्ध हैं। ऐसे ही 10 भण्डारों के खनिज की नीलामी शीघ्र ही प्रस्तावित है। इनमें दमोह, धार एवं सतना के चूना पत्थर के दो-दो, रीवा और बालाघाट के बॉक्साइट, जबलपुर के लौह अयस्क तथा छतरपुर के हीरा खदानों की नीलामी प्रस्तावित है। इस संदर्भ में संबंधित कम्पनियों से विचार-विमर्श एवं सुझाव आमंत्रित किये गये, जिसमें संयुक्त राष्ट्र अमेरिका, दुबई तथा इंग्लैण्ड के हीरा खनन व्यापारियों के साथ-साथ अंबुजा, प्रिज्म, अल्ट्राटेक, एसीसी इत्यादि सीमेंट कम्पनियों ने अपनी शंकाओं का निरसन किया। श्री राजेन्द्र शुक्ल ने बताया कि मध्यप्रदेश भारत देश की ह्रदयस्थली होने के साथ-साथ अकूत खनिज सम्पदायुक्त प्रदेश है। प्रदेश में कोयला, चूना पत्थर, मैगनीज, लौह अयस्क, हीरा एवं बॉक्साइट खनिज के भण्डार प्रचुर मात्रा में विद्यमान हैं तथा प्रदेश में खनिज आधारित उद्योग स्थापित हैं, जिनसे राज्य शासन को राजस्व प्राप्त होता है तथा जन-सामान्य के सामाजिक-आर्थिक उत्थान के लिए रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने का अतिरिक्त माध्यम है। खनिज एवं उद्योग मंत्री ने जानकारी दी कि प्रथम चरण की नीलामी राज्य शासन द्वारा वर्ष 2016 में की गई थी, जिसमें हातुपुर हीरा खनिज खण्ड जिला दमोह के साथ तीन अन्य चूना पत्थर खनिज खण्डों की नीलामी की गई थी। हातुपुर खनिज खण्ड को समेकित अनुज्ञप्ति के माध्यम से बंसल ग्रुप को आंबटित किया गया, जिसका संसाधन मूल्य 107 करोड़ रुपये आंकलित कर उच्चतम बोली के आधार पर 22.31 प्रतिशत आरक्षित मूल्य के समतुल्य राशि 22.87 करोड रुपये राजस्व आय संभावित है। श्री शुक्ल ने बताया कि वर्ष 2017 में राज्य शासन द्वारा सितम्बर-अक्टूबर माह में 10 खनिज खण्डों की द्वितीय चरण की नीलामी किया जाना प्रस्तावित है, जिसमें बक्सवाहा हीरा खनिज खण्ड छतरपुर को शामिल किया गया है। सभी खनिज खण्डों को खनि-पट्टा के रूप में नीलाम किया जायेगा। इस तरह कुल 10 खनिज खण्डों के कुल संसाधन मूल्य का आंकलन 65 हजार 758 करोड़ किया गया है। इसमें से अकेले हीरा खनिज खण्ड का संसाधन मूल्य 60 हजार 687 करोड़ रुपये आंकलित किया गया है। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त जबलपुर जिले में आयरन और सतना, धार एवं दमोह में चूना पत्थर, रीवा और बालाघाट जिले में बॉक्साइट खनिज खण्डों को नीलामी में शामिल किया गया है। ये समस्त खनिज खण्ड 50 वर्ष की अवधि के लिए खनि-पट्टा के रूप में नीलाम किये जाएंगे। बैठक में मध्यप्रदेश शासन के खनिज विभाग के प्रमुख सचिव श्री मनोहरलाल दुबे, संचालक श्री विनीत कुमार ऑस्टिन, श्री एन.के. हंस तथा श्री राकेश कुमार श्रीवास्तव उपस्थित थे


aaस्वास्थ्य मंत्री श्री रूस्तम सिंह ने श्योपुर और मुरैना में किया सघन मिशन इंद्रधनुष का शुभारंभ


9 October 2017

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री रूस्तम सिंह ने कल श्योपुर और मुरैना में सघन मिशन इंद्रधनुष का शुभारंभ किया। लोगों का आव्हान करते हुये श्री सिंह ने कहा इस टीकाकरण अभियान में 'सात बार आना है, आठ वेक्सीन लगवाना है, नौ बीमारियों से बचाना है'। श्री सिंह ने कहा कि शिशु-मातृ मृत्यु दर को कम करने के उद्देश्य से यह अभियान अक्टूबर से जनवरी तक चार चरणों में चलेगा। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि 5 वर्ष तक के शत-प्रतिशत बच्चों को सात बार में आठ प्रकार का टीकाकरण किया जायेगा, जिससे नौ प्रकार की जान लेवा बीमारियों से बचाव होगा। श्री सिंह ने बताया कि श्योपुर जिले में जिला चिकित्सालय को 100 से 200 बिस्तर का किया गया है और नये उप स्वास्थ्य केन्द्र खोले गये है। उन्होंने इस अवसर पर 4 करोड़ 74 लाख रूपये के छ: निर्माण कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास भी किया। उन्होंने बताया कि श्योपुर जिले में एक लाख 19 हजार 15 घरों का सर्वे कर टीकाकरण के लिये 2 वर्ष तक के 33 हजार 320 बच्चे और 11 हजार 406 गर्भवती महिलाओं को चिन्हित किया गया है। श्री सिंह ने बच्चों को पोलियो ड्रॉप्स भी पिलाई। श्री सिंह ने मुरैना में अभियान का शुभारंभ करते हुए कहा कि सघन मिशन इन्द्रधनुष में केन्द्र शासन द्वारा चिन्हित 13 जिलों में मुरैना शामिल नहीं है, लेकिन जिले के कुछ उप स्वास्थ्य केन्द्रों में टीकाकरण का प्रतिशत 80 प्रतिशत से कम है। इन केन्द्रों में शत-प्रतिशत लक्ष्यों की पूर्ति के लिए विशेष कैच अप अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने जिला चिकित्सालय में 7 लाख रुपये की लागत वाली डिजिटल एक्सरे मशीन का शुभारंभ भी किया। कार्यक्रम में श्री सिंह ने 10 शिशुओं का टीकाकरण कराया और पोलियो ड्रॉप पिलाई।


aaबड़वानी, मंडला, अनूपपुर में भी वन्या के सामुदायिक रेडियो स्टेशन शुरू होंगे


9 October 2017

जनजाति कार्य एवं अनुसूचित जाति कल्याण राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने बड़वानी, मंडला और अनूपपुर जिले में भी वन्या के सामुदायिक रेडियो स्टेशन स्थापित करने के निर्देश दिये हैं। श्री आर्य आज 'वन्या' की कार्यकारिणी समिति की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आदिवासी क्षेत्रों में अभी 8 रेडियो स्टेशन चल रहे हैं। इसके विस्तार के लिये स्टेशनों को बढ़ाने की आवश्यकता है। इस मौके पर प्रमुख सचिव श्री एस.एन. मिश्र और प्रबंध संचालक वन्या श्री राकेश सिंह मौजूद थे। श्री आर्य ने कहा कि रेडियो पर आदिवासियों की हितकारी योजनाओं का प्रसारण किया जाए। प्रसारण के पूर्व कार्यक्रमों की पूर्व सूचना भी जारी की जाए। बैठक में बताया गया कि सामुदायिक रेडियो स्टेशनों से 5-5 घंटे सुबह-शाम प्रसारण किया जा रहा है। इसमें ढ़ाई घंटे स्थानीय भाषा और ढ़ाई घंटे हिन्दी भाषा में जानकारियाँ दी जा रही हैं। राज्य मंत्री श्री आर्य ने ईपिक चेनल के लिए बने एपीसोड को प्रसारण के पूर्व समिति से अनुमोदित करवाने को कहा। उन्होंने तथ्यात्मक जानकारी के लिये विषय विशेषज्ञ को आमंत्रित कर सलाह-मशहरा करने के निर्देश दिये। श्री आर्य ने कहा कि महापुरुषों पर बनाई गई फिल्म का प्रसारण बाल संसद जैसे कार्यक्रमों में भी किया जाए। आश्रम, शालाओं और छात्रावासों में फिल्म की प्रति उपलब्ध करवाकर समय-समय पर प्रसारित की जाए। बैठक में पिछली कार्यकारिणी समिति का पालन प्रतिवेदन, वन्या प्रकाशन के सेटअप, लेखा संबंधी सहित अन्य विषयों पर चर्चा की गई। राज्य मंत्री श्री आर्य ने 'समझ झरोखा' पत्रिका विधायकों, सांसदों, जिला पंचायत अध्यक्षों सहित अन्य जन-प्रतिनिधियों को भी उपलब्ध कराने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि पत्रिका में खेल, सामान्य ज्ञान सहित महापुरुषों से संबंधित विषयों का समावेश भी किया जाए। उन्होंने कहा कि इसमें माह के त्यौहार, भारतीय संस्कृति और महापुरुषों के कोटेशन का उपयोग करके भी इसे और रोचक बनाया जा सकता है। श्री आर्य ने कहा कि 'समझ झरोखा' पत्रिका को ऑनलाइन भी किया जाए। इसे विभागीय वेबसाइट एवं सोशल मीडिया पर भी अपलोड करें। पत्रिका में बच्चों की रचनाओं का भी समावेश किया जाए। राज्य मंत्री श्री आर्य ने सामुदायिक रेडियो के श्रोताओं के लिए संदेश रिकार्ड करवाया। इसके पूर्व उन्होंने रिकार्डिंग रूम का निरीक्षण कर आवश्यक जानकारियाँ प्राप्त की।


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता से निपी टीम ने की मुलाकात


9 October 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने सुबह काटजू और जे.पी. हास्पिटल में मरीजों की समस्याएँ सुनीं। जे.पी. हास्पिटल में नार्वे इण्डिया पार्टनरशिप इनीशिएटिव (निपी) के सदस्यों ने राजस्व मंत्री से भेंट की। टीम में भारत में नार्वे के राजदूत, काउंसलर हेल्थ और अन्य सदस्य शामिल थे। निपी की टीम प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने के क्षेत्र में कार्य कर रही है। टीम के सदस्यों ने राजस्व मंत्री द्वारा प्रति सोमवार अस्पताल में मरीजों की समस्याएं सुनने की व्यवस्था की सराहना की। श्री गुप्ता ने शासन की ओर से निपी को हर संभव सहयोग का आश्वासन दिया। इस दौरान स्थानीय जन प्रतिनिधि उपस्थित थे। विकास कार्यों की समीक्षा मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने विकास कार्यों की विस्तृत समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने नेहरू नगर में विज्ञान भवन के सामने स्थित मैदान को मेला स्थल के रूप में विकसित करने के निर्देश दिये। श्री गुप्ता ने बरखेड़ी से बीलखेड़ा मार्ग का कार्य प्रारंभ करवाने तथा नेहरू नगर से चूना भट्टी मार्ग का सौंदर्श्यीकरण एवं विद्युतीकरण करवाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि पार्कों की देखरेख नियमित रूप से करें। बैठक में सी.पी.ए. के अधिकारी उपस्थित थे


aaटीकाकरण बच्चों की जिन्दगी बचाने का प्रयास – मुख्यमंत्री श्री चौहान


8 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि टीकाकरण अभियान बच्चों की जिन्दगी बचाने का प्रयास है। उन्होंने कहा कि सरकार के प्रयास की सफलता के लिये समाज का सहयोग बहुत जरूरी है। केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण मंत्री श्री थावरचंद गेहलोत ने कहा कि अभियान के तहत पूर्ण टीकाकरण करने वाली पंचायतें पुरस्कृत होंगी। टीकाकरण के विशेष अभियान के प्रभावी संचालन में भी मध्यप्रदेश अग्रणी रहेगा। मुख्यमंत्री निवास में आयोजित सघन मिशन इंद्रधनुष शुभारंभ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री और केन्द्रीय मंत्री ने बच्चों को दवा पिलाकर टीकाकरण अभियान की शुरूआत की। इस अवसर पर मोबाइल टीम को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया गया। स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को सात प्रकार के टीकों की जानकारीयुक्त सतरंगी छतरियाँ भी भेंट की गई। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि टीकाकरण बच्चों की जिन्दगी को अपंगता से बचाने का प्रयास है। यह मानवता की बड़ी सेवा है। अभियान को सफल बनाने के लिये जरूरी है कि समाज का हर व्यक्ति, वर्ग और समुदाय टीकाकरण में सहयोग करने के लिये आगे आये। उन्होंने नागरिकों, जनप्रतिनिधियों, समाजसेवियों और प्रबुद्धजनों का आव्हान किया कि उनके आसपास एक भी बच्चा टीकाकरण से वंचित नहीं रहने पाये। उन्होंने कहा कि टीकाकरण का विशेष अभियान केन्द्र और राज्य सरकार के सहयोग से संचालित किया जा रहा है। अभियान के दौरान टीकाकरण और जन-जागरण के प्रयास किये जाएंगे। मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश के 13 जिलों और 89 अनुसूचित जनजाति विकासखण्डों में अभियान को फोकस किया जायेगा। केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण मंत्री श्री थावरचंद गेहलोत ने कहा कि केन्द्रीय योजनाओं के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश का प्रदर्शन अग्रणी रहा है। मातृ एवं शिशु मृत्यु दर को कम करने में भी मध्यप्रदेश में प्रभावी प्रयास हुए हैं। उन्होंने आशा व्यक्त की कि अभियान संचालन में भी प्रदेश अग्रणी रहेगा। उन्होंने बताया कि अभियान के अंतर्गत जिलों में पूर्ण टीकाकरण की उपलब्धि प्राप्त करने वाली ग्राम पंचायत को दो लाख रूपये का पुरस्कार दिया जायेगा। टीकाकरण में पिछड़े जिलों में सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान संचालित किया जा रहा है। यह अभियान मातृ-शिशु मृत्यु दर को कम करने का प्रयास है। अभियान का संचालन योजनाबद्ध तरीके से चरणों में किया जाएगा। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी स्वयं गुजरात के बड़नगर जिले से अभियान का शुभारंभ कर रहे हैं। शुभारंभ कार्यक्रम में यूनिसेफ मध्यप्रदेश के प्रमुख श्री माईकल जूमा ने कहा कि पूर्ण टीकाकरण प्रभावी प्रयास है। उन्होंने प्रदेश सरकार के अभियान की सफलता के लिये की गई अभिनव पहल की सराहना की। कार्यक्रम में बताया गया कि दूर-दराज के क्षेत्रों तक टीकाकरण पहुंचाने हेतु राज्य सरकार द्वारा देश में अपनी तरह की विशेष पहल की है। प्रदेश के सभी 89 अनुसूचित जनजाति विकासखण्डों में टीकाकरण के लिये 941 मोबाइल टीम का गठन किया गया है। अभियान के दौरान 2 हजार 668 स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के माध्यम से नवजात से दो वर्ष तक की उम्र के 90 हजार बच्चों और 23 हजार 234 गर्भवती महिलाओं को टीकाकरण की सेवाएँ 13 जिलों में दी जाएगी। कार्यक्रम में आयुक्त लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्रीमती पल्लवी जैन गोविल, सचिव लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्री कवीन्द्र कियावत, यूनिसेफ मध्यप्रदेश के संचार विशेषज्ञ श्री अनिल गुलाटी भी मौजूद थे।


aaमहिलाओं को पुलिस आरक्षक भर्ती में मिलेगी ऊँचाई में छूट


8 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महिलाओं को आर्थिक और सामाजिक रूप से सशक्त बनाने के व्यापक उपाय किये गये हैं। माँ-बहन और बेटियों का जीवन सुखमय बनाने के लिये राज्य सरकार कोई कोर-कसर बाकी नहीं रखेगी। उन्होंने समाज से आव्हान किया कि बाल विवाह एवं दहेज प्रथा जैसी कुरीतियों को दूर करने, बेटा-बेटी को समान महत्व देने और विधवा विवाह को प्रोत्साहित करने आगे आयें। मुख्यमंत्री आज यहाँ दिल से कार्यक्रम में आकाशवाणी और दूरदर्शन पर माताओं-बहनों और बेटियों से संवाद कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि विधवा विवाह में दो लाख रूपये की सहायता दी जायेगी एवं विधवा पेंशन में बीपीएल का बंधन समाप्त किया जायेगा। उन्होंने आदिवासी बहुल विकासखण्डों में सेनेटरी नेपकिन आधी कीमत पर उपलब्ध करवाने, पुलिस आरक्षक भर्ती में महिलाओं को ऊँचाई सहित शारीरिक मापदण्ड में छूट देने, शासकीय सेवा में कार्यरत पति-पत्नी को यथासंभव एक स्थान पर पदस्थ करने, माँ-बच्चे के पोषण और स्वास्थ्य के लिये प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना शुरू करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि बलात्कारियों को फाँसी की सजा दिलाने के लिये शीघ्र ही विधानसभा में सख्त कानून बनाने का प्रस्ताव लाया जायेगा। छेड़छाड़ के अपराध के लिए 10 वर्ष के सश्रम कारावास का प्रावधान करवाया जायेगा। स्कूल और सिटी बसों में छेड़छाड़ की घटना को रोकने के लिये सी.सी.टी.वी. कैमरे लगी बसों को ही परमिट दिए जायेगा। उन्होंने कहा कि बलात्कार के प्रकरणों में बिना शासकीय अधिवक्ता को सुने जमानत की याचिका पर विचार नहीं करने का प्रावधान भी कर रहे हैं। पैतृक सम्पत्ति में हिस्सा देने के कानून का प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जायेगा। महिला स्व-सहायता समूहों को माइक्रो फाइनेंस कार्य के लिए सरकार से मैचिंग ग्रांट की सीमा एक करोड़ से घटाकर 50 लाख रूपए की जायेगी। स्व-सहायता समूहों के उत्पादों के लिये जिले की माँग अनुसार विकासखंडवार बिक्री केन्द्र संचालित होंगे। समूह को 3 लाख रूपए तक की सीमा तक 3 प्रतिशत अतिरिक्त अनुदान मिलेगा। एक लाख रूपए की ऋण सीमा तक स्टाम्प ड्यूटी में छूट होगी। ग्राम पंचायत कार्यालय में महिला स्व-सहायता समूह डेस्क गठित होंगे। स्कूली बच्चों के गणवेश समूह से बनवाये जायेंगे। एस.एच.जी. के लिये पोर्टल भी बनेगा।
बेटियों को समृद्ध बनायें -
मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने बेटियों के स्वास्थ्य शिक्षा, आर्थिक सशक्तिकरण, स्वावलम्बन और कौशल विकास की जिम्मेदारी ली है। प्रदेश में 26 लाख लाड़ली लक्ष्मियाँ है। जब वे 21 वर्ष की होगी तब उनके बैंक खातों में 31 करोड़ रुपये की राशि जमा होगी। आगामी 12 अक्टूबर को लाड़ली शिक्षा पर्व मना रहे हैं जिसमें छठवीं कक्षा में प्रवेश लेने वाली 65 हजार लाड़ली लक्ष्मियों को दो हजार रुपये की छात्रवृत्ति दी जायेगी। स्कूलों में छठवीं और आठवीं कक्षा में प्रवेश लेने वाली बेटियों के स्वास्थ्य की भी नि:शुल्क जाँच होगी।
बाल विवाह बेटियों के साथ अन्याय -
श्री चौहान ने बाल विवाह को बेटियों के साथ अन्याय बताते हुए लाडो अभियान के बारे में बताया जिसमें समाज के सहयोग से लगभग एक लाख बाल विवाह रोके गये हैं। बाल विवाह के विरोध के बनते वातावरण का उल्लेख करते हुए कहा कि बेटियाँ स्वयं भी प्रथा के विरोध में आगे आने लगी हैं। मंदसौर जिले के कचनारा में ब्याही बेटी पूजा ने न्यायालय की शरण लेकर विवाह को शून्य घोषित करवाया है। अनूपपुर जिले की ग्राम बिजुरी-मौहरी ने भी वर्ष 2014 में सत्रह वर्ष की आयु में विवाह तय किये जाने का विरोध करते हुए उसे एक वर्ष के लिये रुकवा दिया था। बालिकाओं और महिलाओं के प्रति हिंसा, सामाजिक कुरीतियों को रोकने के लिये शौर्या दल के साथ जुड़ने की बात भी कही। बताया कि मण्डला जिले की कुमारी काजल बैगा की इच्छा अनुसार शादी करवाने, छतरपुर जिले के खजुराहो में मानव तस्करी को रुकवाने जैसे कार्यों में शौर्या दल ने सराहनीय पहल की है।
बेटियों की शिक्षा सरकार की जिम्मेदारी -
मुख्यमंत्री ने शिक्षा की महत्ता बताते हुए नि:शुल्क स्कूली शिक्षा, पौष्टिक मध्यान्ह भोजन की व्यवस्था के साथ कॉलेज की शिक्षा के लिये प्रतिभा किरण योजना, गाँव की बेटी योजना और मुख्यमंत्री मेधावी योजना की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि रीवा के गोरगाँव की कुमारी जस्मिन पटेल, बैतूल के ओहरगाँव की बेटी कुमारी किरण की डॉक्टरी और इंजीनियरिंग शिक्षा का पूरा खर्च राज्य सरकार उठा रही है। इन बेटियों के साथ ही अनेक कन्याओं की शिक्षा की जिम्मेदारी अब राज्य सरकार ने ले ली है। उन्होंने खूब मन लगा कर पढ़ने के लिये कहा।
महिलाएँ स्वालम्बी बनें-
मुख्यमंत्री ने महिलाओं को स्वालम्बी होने के लिये प्रेरित किया। मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना की सफल हितग्राही सुचिता भार्गव का वस्त्र ब्रांड रंगदेसी, शिखा नागर की आईटी कंपनी, नेहा मित्तल की हाईटेक लांड्री की लोकप्रियता का उल्लेख किया। महिला स्व-सहायता समूहों की सामाजिक-आर्थिक और राजनैतिक सशक्तिकरण में भूमिका का उल्लेख करते हुए कहा कि 22 लाख परिवारों को संगठित कर बने 2 लाख स्व-सहायता समूहों को लगभग 1800 करोड़ का ऋण दिलाया गया है। उनकी आजीविका गतिविधियाँ गर्व का विषय हैं। गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वालों में से डेढ़ लाख सदस्यों ने लखपति क्लब का निर्माण कर लिया है। श्योपुर जिले के कराहल के गाँव सिलपुरी की श्रीमती काली बाई पटेलिया, राजगढ़ जिले के ब्यावरा के गाँव कचनारिया की सुशीला बाई स्व-सहायता समूह से जुड़कर करीबी रेखा से बाहर आ गईं हैं।
स्व-सहायता समूह सशक्त बनेंगे-
प्रदेश सरकार महिला स्व-सहायता समूहों को सशक्त बनाने के लिये प्रतिबद्ध है। महिला स्व-सहायता समूहों का पोर्टल बनाकर उनकी सफलताओं और उपलब्धियों का उल्लेख करवाया जायेगा। मुर्गी उत्पादक कंपनी का गठन कर वर्ष 2016-17 में महिलाओं द्वारा 175 करोड़ रुपये का व्यापार किया गया है। मुख्यमंत्री ने महिलाओं के सशक्तिकरण के प्रयासों में तेजस्विनी कार्यक्रम की सराहना करते हुए बताया कि मेहंदवानी की आदिवासी महिला रेखा बाई पेन्द्राम ने संयुक्त राष्ट्र संघ के 61वें सत्र को संबोधित करने की अभूतपूर्व सफलता प्राप्त की है। उन्होंने महिलाओं के प्रति सामाजिक नजरिये में बदलाव की अपील करते हुए कहा कि गरीब पिता को मुख्यमंत्री कन्या विवाह और निकाह योजना ने बेटी के विवाह की चिंता से मुक्त कर दिया है। मातृ और शिशु स्वास्थ्य के लिये जननी सुरक्षा योजना, मुफ्त दवाएँ, संस्थागत प्रसव के दौरान पौष्टिक भोजन, पौष्टिक लड्डू नि:शुल्क उपलब्ध कराये जाते हैं। वर्ष 2005-6 की मातृ मृत्यु दर 335 से घटकर आज 221 हो गई है। अस्पतालों में प्रसव की संख्या 26 से बढ़कर 86 प्रतिशत हो गई है।
महिला आरक्षण के मिल रहे बेहतर परिणाम -
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महिलाओं को शासन के सूत्र सौंपने के सरकार के प्रयासों का जिक्र करते हुए बताया कि त्रि-स्तरीय पंचायतों में 2007 में आरक्षण का प्रतिशत 33 से बढ़ाकर 50 किया गया था। इसका सफल परिणाम है कि आज प्रदेश में 2 लाख 8 हजार 991 पंचायत पदाधिकारी महिलाएँ हैं। जो कुल संख्या का 52 प्रतिशत है। महिला पदाधिकारियों के कार्यों की धूम मची है। इन्दौर की कुदरिया ग्राम पंचायत की सरपंच श्रीमती अनुराधा जोशी को महामहिम राष्ट्रपति के समक्ष स्वच्छता के नवाचारों के संबंध में प्रस्तुतिकरण के लिये कानपुर में आंमत्रित किया गया। प्रधानमंत्री आवास योजना में सबसे अधिक आवास पूर्ण कराने वाली सरपंच भी राजगढ़ के खिलचीपुर की ग्राम पंचायत बरखेड़ा भोजा की महिला श्रीमती संगीता बाई हैं। ऐसी ही सक्रिय महिला सरपंच सिवनी-मालवा की श्रीमती जसोदाबाई, भिण्ड की श्रीमती रीमा खरे, कटनी की श्रीमती सुमनबाई, शहडोल की श्रीमती पुष्पा सिंह का उदाहरण देते हुए बधाई दी। शासकीय सेवा में महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण देने के अच्छे परिणामों का जिक्र करते हुए बताया कि प्रदेश में नवनियुक्त 710 महिला प्रहरियों में 210 महिलाएँ हैं। इटारसी की बेटी प्रियंका यादव को बेस्ट कैडेट और सागर की बेटी शालिनी जैन को बेस्ट ड्रिल के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिये दीक्षांत कार्यक्रम में पुरस्कार मिले। पुलिस में महिलाओं की अधिक से अधिक भर्ती के लिये महिला-बाल विकास विभाग द्वारा सशक्त वाहिनी योजना में भर्ती पूर्व प्रशिक्षण नि:शुल्क दिया जा रहा है। पटवारी और अध्यापक संवर्ग में पति–पत्नी की पदस्थापना यथासंभव एक ही स्थान पर करने के प्रयास की बात भी कही।
जीवन के हर क्षेत्र में महिलाएँ सफल -
मुख्यमंत्री ने जीवन के सभी क्षेत्रों में महिलाओं की उपलब्धियों पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए बताया कि रियो ओलंपिक में प्रदेश की सात बेटियों ने भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व किया था। वर्ष 2016 की एशियन हॉकी चेम्पियनशिप में देश को स्वर्ण पदक दिलवाने वाली खिलाड़ी नवदीप कौर, प्रीति दुबे और एशिया कप बैंकॉक में कांस्य पदक दिलवाने वाली खिलाड़ी नीलू डांडिया और दिव्या ठेपे पर प्रदेश को गर्व है। उन्होंने शूटिंग में सुरभि पाठक, चिंकी यादव, बॉक्सिंग में श्रुति यादव, अंजलि शर्मा, कराटे में सु्प्रिया जाटव, शिवानी कराले, वंशिका तवर, ताइक्वांडो में लतिका भंडारी, सेलिंग में हर्षिता तोमर, कुश्ती में शिवानी पवार द्वारा अंतर्राष्ट्रीय स्पर्धाओं में प्रदेश को गौरवान्वित करने और महिला खिलाड़ियों द्वारा प्रदेश को 120 पदक अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में दिलवाने के लिये बधाई दी।
दुराचारियों को कड़ा दंड -
समाज में बेटियों की सुरक्षा को लेकर चिंता व्यक्त करते हुए समाज की सोच में परिवर्तन की बात कही। दुराचारियों को कडा दंड दिलवाने के लिये भरपूर प्रयासों की जरूरत बतायी। कहा कि महिलाओं के खिलाफ अपराधों के त्वरित अनिवार्य पंजीयन की व्यवस्था की गई है। महिला हेल्पलाइन 1090, निर्भया पेट्रिलिंग जैसे प्रयास किये गये हैं। सोशल मीडिया या साइबर क्राइम से संबंधित शिकायतें पुलिस महानिदेशक को ट्वीट कर, साइबर पुलिस की ई-मेल आईडी पर अथवा मध्यप्रदेश पुलिस के क्राइम अगेनस्ट फेसबुक पेज पर दर्ज कराने के लिये कहा। उन्होंने बताया कि महिलाओं के साथ होने पर अपराधों पर सख्त कानून बनाना भी जरूरी है। राज्य सरकार शीघ्र ही विधानसभा में इस संबंध में प्रस्ताव लायेगी।
नारी शक्ति का गौरवशाली इतिहास -
मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश में नारी शक्ति के गौरवशाली इतिहास का जिक्र करते हुए कहा कि अनेक प्रतिभाशाली विदुषी और समाजसेवी महिलाएँ इस धरती पर हुई हैं। महिलाओं की विद्वता, सजगता और 1857 के संग्राम, भोपाल विलीनीकरण, झंडा सत्याग्रह आदि आंदोलनों में महिलाओं की सक्रियता का उल्लेख भी किया। बताया कि महात्मा गांधी के सत्याग्रह आंदोलन में प्रथम महिला सत्यग्राही सुभद्राकुमारी चौहान थीं। वर्तमान समय में प्रदेश की राजनैतिक हस्तियों में स्वर्गीय राजमाता सिंधिया, श्रीमती सुमित्रा महाजन, सुश्री उमा भारती और श्रीमती सुषमा स्वराज का उल्लेख करते हुए बताया कि स्वर कोकिला सुश्री लता मंगेशकर और अभिनेत्री श्रीमती जया बच्चन की जन्म-भूमि मध्यप्रदेश है। ग्वालियर जिले की भितरवार जनपद पंचायत के गांव किशोरगढ़ निवासी आयु के सौ वर्ष पूरे कर चुकी जेबो बाई का उल्लेख करते हुए कहा कि जीवन में कुछ कर गुजरने का जज़्बा ही सब कुछ है। उन्होंने बताया कि जेबो बाई ने उम्र के इस पड़ाव पर अपने घर में शौचालय बनवाकर मिसाल कायम की है। भोपाल की रक्त वीरांगना और राष्ट्र गौरव सम्मान से सम्मानित श्रुति सोनी को भी एक मिसाल बताया। जिसने एक वर्ष की अवधि में तीन हजार यूनिट रक्तदान किया है।
महिला स्वास्थ्य और पोषण प्राथमिकता -
श्री चौहान ने बताया कि महिलाओं और बच्चों के पोषण और स्वास्थ्य के लिये नवम्बर माह से राज्य में प्रधानमंत्री वंदना योजना प्रारंभ की जायेगी। जिसमें प्रथम बच्चे के जन्म पर विभिन्न चरणों में माता को पाँच हजार की राशि उपलब्ध कराई जायेगी। एक वर्ष में लगभग चार से पाँच लाख महिलाएँ योजना से लाभान्वित होंगी। उन्होंने कहा कि चरण पादुका योजना में तेंदू पत्ता और महुआ बीनने वाली महिलाओं को पादुका उपलब्ध करवायें। महिलाओं की शिक्षा, सेहत, सम्मान और स्वालम्बी बनाने की सरकार की प्रतिबद्धता को दोहराते हुए माताओं और बहिनों से अपील की कि वे किशोरी बालिकाओं, धात्री माताओं की पोषण आवश्यकताओं पर ध्यान दें। गर्भावस्था में खून की कमी नहीं होने दें। आँगनबाड़ी की गतिविधियों में सहयोग करने, स्वच्छता को प्रमुखता देने की बातें बताईं। उन्होंने कहा कि दहेज प्रथा अलग-अलग नामों से अभी भी समाज में जिंदा है। इसे खत्म करने के लिये समाज को ही आगे आना होगा। उन्होंने समाज की बेटियों के प्रति धारणा को भी बदलने की जरूरत बताई और कहा कि बेटी के घर में रहना उसी तरह से उचित है जिस तरह से बेटे के घर में रहना है।
महिलाएँ परिवार की धुरी-
मुख्यमंत्री ने महिलाओं को करवा चौथ की बधाई देते हुए कहा कि वे परिवार की धुरी हैं उन्हीं परिवारों में सुख-समृद्धि होती है जहाँ महिलाओं का सम्मान होता है। उन्होंने पुरुषों से पारिवारिक जिम्मेदारियों में महिलाओं के त्याग का सम्मान करने की अपील भी की।


aaकिसानों को सिंचाई की सुविधा मुहैया कराने सरकार संकल्पित


8 October 2017

जल-संसाधन मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज दतिया जिले के ग्राम बुधेड़ा में 18.7 करोड़ रुपए लागत की नहर बनवाने की घोषणा की। डॉ. मिश्र ने कहा कि इस नहर से लगभग 1300 हेक्टेयर जमीन में सिंचाई होगी। इससे भवानीपुर, दतिया खास, झड़िया, रिछरा, कुम्हेड़ी, बुधेड़ा, सिरौल आदि ग्रामों को सिंचाई में लाभ मिलेगा। उन्होंने अन्य ग्रामों में भी आवश्यकतानुसार नहरें बनवाने की घोषणा की। डॉ. मिश्र ने कहा कि किसानों को सिंचाई की सुविधा मुहैया कराने के लिए सरकार कृत-संकल्पित है। सरकार निरंतर प्रयासरत है कि कोई भी गाँव सिंचाई सुविधा से वंचित नही रहे।
दीनदयाल रसोई का निरीक्षण -
जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने दतिया में माँ पीताम्बरा पीठ द्वारा संचालित दीनदयाल रसोई का निरीक्षण किया। डॉ. मिश्र ने इस दौरान दान-दाताओं एवं समाज सेवियों से प्राप्त सामग्री जरूरतमंदों को दान दी।
पटेल समाज द्वारा जनसम्पर्क मंत्री सम्मानित -
डॉ. नरोत्तम मिश्र को दतिया के पटेल कुर्मी समाज ने शॉल-श्रीफल भेंट कर सम्मानित किया। जनसम्पर्क मंत्री ने कहा कि पटेल-कुर्मी समाज निरंतर प्रगति कर रहा है। इस भावना से अन्य समाज के लोगों को भी प्रेरणा लेना चाहिए। डॉ. मिश्र ने कहा कि समाज और जन-कल्याण के कार्य मेरी प्राथमिकता है।


aaडिग्री के साथ कौशल विकास पर भी ध्यान दें विद्यार्थी - राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी


8 October 2017

तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग (स्वतंत्र प्रभार), श्रम एवं स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने कहा है कि तकनीकी क्षेत्र के विद्यार्थी डिग्री हासिल करने के साथ-साथ अपने कौशल विकास पर भी ध्यान दें। उन्होंने कहा कि पॉलीटेक्निक के छात्रों को रोजगार पाने की बजाय ऐसा हुनर विकसित करना चाहिए कि अन्य लोगों को रोजगार दे सकें। श्री जोशी रविवार को बैतूल में पॉलीटेक्निक कॉलेज में विद्यार्थियों को संबोधित कर रहे थे। श्री जोशी ने कहा कि बैतूल पॉलीटेक्निक की व्यवस्थाओं की सराहना करते हुए कहा कि प्रदेश के अन्य पॉलीटेक्निक महाविद्यालय के प्राचार्यों को यहां पर्यावरण, अध्यात्म एवं शैक्षणिक सुधार की दिशा में किए गए कार्यों के अवलोकन हेतु भ्रमण कराया जाएगा। इस दौरान उन्होंने पॉलीटेक्निक की कक्षाओं का निरीक्षण किया और विद्यार्थियों से उनकी समस्याओं एवं अध्ययन व्यवस्थाओं पर चर्चा की। श्री जोशी ने विद्यार्थियों की सुविधाओं के लिए अगले वित्तीय वर्ष में ऑडिटोरियम हॉल बनवाने की घोषणा की। राज्य मंत्री श्री जोशी ने विद्यार्थियों को बताया कि पॉलीटेक्निक परीक्षा हिन्दी भाषा में देने के लिए विद्यार्थियों को सुविधा मुहैया कराई जाएगी। विद्यार्थियों को अपने कौशल एवं उद्यमिता विकास के लिए कक्षाओं में ऑनलाइन प्रशिक्षण देने की व्यवस्था भी की जा रही है। श्री जोशी ने पॉलीटेक्निक में आयोजित हेप्पीनेस कार्यक्रम का समापन किया और परिसर में जल संवर्धन के कार्यों का अवलोकन किया। राज्य मंत्री ने विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षाओं में तकनीकी ज्ञान उपलब्ध कराने के लिए महाविद्यालय द्वारा तैयार कराए गए मोबाइल एप लांच किया और इंटरनेशनल जर्नल ऑफ पॉलीटेक्निक स्टडी और पूर्व छात्र संगठन की वेबसाइट का शुभारंभ किया गया। छात्रों ने फंड बटालियन में एकत्र एक लाख एक रूपए की राशि का चेक श्री जोशी को सौंपा। राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने वनवासी कल्याण परिषद् मध्य भारत के 20वें प्रांतीय खेल महोत्सव के समापन समारोह में हिस्सा लिया। विजेता खिलाडिय़ों को पुरस्कार वितरित किए और वनवासी कल्याण परिषद् को 51 हजार रूपए की राशि स्वेच्छानुदान मद से देने की घोषणा की।


aaमध्यप्रदेश में उद्योगों की स्थापना के लिये 1.25 लाख एकड़ भूमि उपलब्ध


7 October 2017

उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने आज पीथमपुर में मायलॉन लेबोरेट्रीज लिमिटेड की एक्स्पांशन यूनिट का उदघाटन किया। श्री शुक्ल ने इस अवसर पर कहा कि मध्यप्रदेश में उद्योगों के लिए सभी आवश्यक आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध हैं। उद्योगों के अनुकूल माहौल हैं। विश्व बैंक ने भी उद्योगों के अनुकूल माहौल के लिए मध्यप्रदेश को पाँचवीं रैंक दी है। उद्योग मंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश को विकसित राज्य की श्रेणी में लाने के लिये औद्योगिक क्रांति की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में उद्योगों के लिए आधारभूत सुविधाएं फोरलेन सड़कें, सरप्लस बिजली एवं पानी उपलब्ध है। इंदौर, भोपाल सहित प्रदेश के दूसरे स्थानों पर लगभग 1.25 लाख एकड़ जमीन उद्योगों की स्थापना के लिए उपलब्ध हैं। श्री शुक्ल ने कहा कि रीवा में दुनिया का सबसे बड़ा सोलर पॉवर संयंत्र लगाया जा रहा है। इसकी क्षमता 750 मेगावॉट होगी। इस संयंत्र से सबसे सस्ती सोलर उर्जा 2.97 रुपये प्रति यूनिट की दर से उपलब्ध होगी। उन्होंने मायलॉन कम्पनी के संचालकों को पिछले चार वर्षों में तेजी से प्रगति कर एक्सपांशन यूनिट स्थापित करने के लिये बधाई दी तथा आशा व्यक्त की कि वे इस यूनिट की केपीसिटी को 0.5 बिलियन से बढ़ाकर शीघ्र ही एक बिलियन करेंगे। इस अवसर पर सांसद श्रीमती सावित्री ठाकुर, विधायक श्रीमती नीना विक्रम वर्मा, एम.पी.ट्राइफेक के एम.डी श्री डी.पी आहुजा मौजूद थे।


aaवन्यप्राणी सप्ताह समारोह में विद्यार्थी और वनकर्मी पुरस्कृत


7 October 2017

अपर मुख्य सचिव वन श्री दीपक खाण्डेकर के मुख्य आतिथ्य में आज वन विहार राष्ट्रीय उद्यान में वन्यप्राणी सप्ताह का समापन हुआ। समारोह में सप्ताह के दौरान आयोजित विभिन्न प्रतियोगिता के विजेता विद्यार्थियों और वन्यप्राणी संरक्षण में उल्लेखनीय योगदान देने वाले 23 वनकर्मियों को पुरस्कृत भी किया गया। इस अवसर पर क्लोज टू माई हार्ट अभियान का शुभारंभ किया गया। इसमें लोग 300 रुपये की अंश राशि जमा कर वन्यप्राणी संरक्षण में भागीदारी कर सकेंगे। प्रधान मुख्य वन संरक्षक डॉ. अनिमेष शुक्ला, प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्यप्राणी) श्री जितेन्द्र अग्रवाल, प्रबंध संचालक राज्य वन विकास निगम श्री रवि श्रीवास्तव, प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री शहबाज अहमद, श्री एम.के. सपरा, श्री यू.प्रकाशम भी मौजूद थे। श्री दीपक खाण्डेकर ने लोगों को वन्यप्राणी सुरक्षा संवर्धन एवं संरक्षण में सक्रिय सहयोग देने की शपथ दिलाई। श्री जितेन्द्र अग्रवाल ने बताया कि इस वर्ष बड़ी संख्या में बच्चों के साथ अभिभावक एवं अध्यापकों ने विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लिया। चित्रकला प्रतियोगिता में एक हजार से अधिक विद्यार्थियों ने अपनी भावनाओं को चित्रों के रूप में उकेरा।
पुस्तकों और वृत्त चित्र का विमोचन -
कार्यक्रम में कान्हा तथा सतपुड़ा राष्ट्रीय उद्यान पर प्रकाशित काफी टेबल बुक और पक्षियों के ब्रोशर, संजय टाइगर रिजर्व की 'बायोडायवर्सिटी ऑफ संजय' सहित तीन पुस्तकों एवं गाँधी सागर अभयारण्य को प्रदर्शित करने लघु वृत्त चित्र का विमोचन किया गया।
राज्य स्तरीय वन्यप्राणी संरक्षण पुरस्कार 2017 -
वन्यप्राणी संरक्षण में उत्कृष्ट कार्य करने के लिये उप वन संरक्षक श्रीमती प्रतिभा अहिरवार, सहायक वन संरक्षक श्री प्रदीप कुमार त्रिपाठी, वनक्षेत्रपाल श्री कल्लूलाल मंडराई, उप वन क्षेत्रपाल श्री सरताज खान, वनपाल श्री मेहरू सिंह मर्रापे, वनरक्षक सर्वश्री मन्नू सिंह टेकाम, श्री रवि शर्मा तथा नन्द किशोर अहिरवार, वन्यप्राणी चिकित्सा श्री गुरूदत्त शर्मा, सहायक प्रोग्रामर श्री सुरेश देशमुख तथा महावत श्री गन्नू लाल को पुरस्कृत किया गया। इन सभी को 50-50 हजार रूपये नगद तथा प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया। समूह में विशिष्ट उपलब्धि के लिए वन मण्डलाधिकारी मंदसौर श्री उपेन्द्र कुमार शर्मा तथा वन मण्डल के नौ अन्य अधिकारी-वन कर्मियों को एक लाख रूपये नगद तथा प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया। महावत श्री जग्गू बैगा तथा टाईगऱ प्रोटेक्शन फोर्स में कार्यरत श्रमिक श्री कृष्ण पुरी गोस्वामी को प्रशस्ति पत्र दिया गया।
वन्यप्राणी सप्ताह में आयोजित प्रतियोगिताओं के विजेता -
वन विहार राष्ट्रीय उद्यान में सप्ताह भर चले इस विशेष आयोजन के दौरान चित्रकला, फोटोग्राफी, रंगोली, वादविवाद, तात्कालिक भाषण, निबंध, सृजनात्मक कार्य, प्रश्नोत्तरी तथा फेन्सीड्रेस प्रतियोगिता आयोजित की गई। इन प्रतियोगिताओं में विजेता रहे मुकेश सिंह, संस्कृति देशमुख, अदिति पोद्दार, ऋदेश जेठानी, मेहल अजमेरा, ईशान नायर, अंतरिक्ष सेठिया, राजदीप मृधा, कीर्ति गोहे, निखिल खत्री, दिव्या चौरसिया, प्रमोद कौशल, रोहित टोरानी, अर्पणा लकड़ा, अंगेश्वर धुर्वे, अक्षिता जैन, आदित्य नामदेव, अंतरिक्ष सेठिया, सिद्वांत आर्या, आयुष खरे, यश अग्रवाल, आदि जैन, साक्षी कटियार, दीक्षा कनवर, धर्मेन्द्र मेवाड़े, साइमा खान, प्रतिभा सिंह, दिव्यांशी के.जग्गी, कुमार सात्विक,सत्यम चतुर्वेदी, कुनाल बहल, यशी गुप्ता, हर्षिता लिलवानी, सन्प्रति दीक्षित, यशराज सिंह यादव, कुशाग्र जायसवाल, अभय शुक्ला, अभीप्सा प्रधान, रिया जैन, कुनाल बहल, अदिति पांडे, संयुक्ता धानेरकर, मीनाक्षी भार्गवा, डॉ.सुगंधा सिंह, दीपिका सक्सेना, डॉ.अनुपमा पांडे, राजेश नामदेव, अनिमा सिंह, अंकिता लोधी, इशिता गुप्ता, राधिका यादव, सुप्रिया तिवारी, प्रथम आहूजा, मिताली गुर्जर, चक्रेश कुमार रजक, क्षमा निमोरे, मुबाशिरा खान, मनीष तिवारी, अनुजा भार्गव, मीताशा श्रीवास्तव, अंकिता दीक्षित, अदिति पांडे, रितिष्का प्रसाद, कनिका मंगतानी, निकिता सिंह, कशिश कासिम, रिचा सिंह, कीर्ति सिंह, देवाशीष कन्हेरे, वेंकटेश प्रताप सिंह, नंदिनी सिंह, श्रुति शर्मा, नैतिक रावत, जिष्णू दरड़ा, तथा अभिनव कुशवाहा को पुरस्कृत किया गया। संचालक, वन विहार राष्ट्रीय उद्यान श्रीमती समीता राजोरा ने अतिथियों का आभार व्यक्त किया।


aaजनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने 150 शिक्षकों का किया सम्मान


7 October 2017

जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कहा है कि स्वस्थ समाज के निर्माण में शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका रहती है। शिक्षकों के मार्गदर्शन पर ही बच्चों का भविष्य टिका होता है। शिक्षक ही राष्ट्र का निर्माण करते हैं। डॉ. मिश्र दतिया में 150 शिक्षकों के सम्मान-समारोह में बोल रहे थे। इस मौके पर पाठ्य-पुस्तक निगम के उपाध्यक्ष श्री अवधेश नायक भी मौजूद थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने भैयालाल को कराया गृह प्रवेश


7 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को उज्जैन के आनन्द नगर में प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना से लाभान्वित भैयालाल कटारिया को परिवार सहित गृह प्रवेश कराया। श्री चौहान ने इस अवसर पर कहा कि कोई गरीब बगैर जमीन के नहीं रहेगा। जमीन देने के बाद उसका पक्का मकान भी बनवाया जाएगा। प्रदेश में सभी गरीबों को पक्का मकान मिलेगा। मुख्यमंत्री ने आनन्द नगर कॉलोनी में प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) से लाभान्वित 11 लोगों को उनके घर के पूर्णता प्रमाण-पत्र प्रदान किये। आनन्द नगर क्षेत्र में योजना के तहत 62 आवास स्वीकृत किये गये हैं, इनमें से 55 आवासों का निर्माण पूर्ण कर लिया गया है। इस अवसर पर ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन, सांसद प्रो.चिन्तामणि मालवीय, विधायक डॉ.मोहन यादव, यूडीए अध्यक्ष श्री जगदीश अग्रवाल, श्री इकबालसिंह गांधी, महापौर श्रीमती मीना जोनवाल, निगम अध्यक्ष श्री सोनू गेहलोत तथा क्षेत्रीय पार्षद उपस्थित थे।


aaस्वच्छता के साथ संस्कारों में भी इंदौर नम्बर वन है और रहेगा


6 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने आज इंदौर में मराठी सोशल ग्रुप द्वारा आयोजित तीन दिवसीय मराठी फूड फेस्टिवल 'जत्रा'' का शुभारंभ किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इंदौर स्वच्छता के क्षेत्र में ही नहीं बल्कि संस्कारों में भी नम्बर वन है और आगे भी रहेगा। उन्होंने कहा कि इंदौर की विशिष्ट संस्कृति, पहचान व परम्परा है। इंदौर ने एक कदम आगे बढ़कर स्वच्छता के क्षेत्र में हिन्दुस्तान में अपनी नयी पहचान बनायी है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जत्रा में अलग-अलग तरह के व्यंजन बनते हैं। जत्रा मेले में व्यापारी अपना स्टॉल नहीं लगाते हैं,बल्कि हमारी मराठी बहनें और बेटियां स्टॉल लगाती हैं। इन व्यंजनों में मराठी का अपना विशिष्ट स्वाद तो है ही, बहनों की भावना भी जुड़ने के कारण व्यंजनों के स्वाद में चार चांद और लग गये। उन्होंने कहा कि इंदौर व्यंजनों के मामले में पहले से ही समृद्ध रहा है। इंदौर के सराफा में व्यंजनों का स्वाद कौन भूल सकता है। जत्रा की परम्परा ने इंदौर की इस परम्परा को और आगे बढ़ाया है। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त की कि मराठी समाज में महिलाओं को प्रमुखता दी जाती है। उन्होंने कहा कि बेटियों के बिना समाज आगे नहीं बढ़ सकता। देश की तरक्की में महिलाओं का विशेष योगदान है। उन्होंने लाड़ली लक्ष्मी योजना का जिक्र करते हुये कहा कि इसके अंतर्गत पाँचवी परीक्षा उत्तीर्ण करने वाली बालिकाओं के खाते में स्वर्गीय श्रीमती विजयाराजे सिंधिया के जन्मदिवस 12 अक्टूबर को दो-दो हजार रुपये की राशि जमा की जायेगी। महापौर श्रीमती मालिनी गौड़ ने स्वच्छता के क्षेत्र में इंदौर को नम्बर वन बनाने में नागरिकों के सहयोग के लिये धन्यवाद दिया। कार्यक्रम में इंदौर को स्वच्छ बनाने में योगदान देने पर महापौर श्रीमती मालिनी गौड़ और नगर निगम आयुक्त श्री मनीष सिंह का सम्मान किया गया। इस अवसर पर इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री शंकर लालवानी, विधायक सर्वश्री सुदर्शन गुप्ता, महेन्द्र हार्डिया तथा मनोज पटेल, नगर निगम के सभापति श्री अजयसिंह नरूका आदि उपस्थित थे


aaहिन्दी भाषा को बढ़ावा देना सबकी जिम्मेदारी : मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र


6 October 2017

जल संसाधन, जनसम्पर्क एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कहा कि भारत में ही नहीं विश्व में हिन्दी बोलने वालों की संख्या निरंतर बढ़ रही है। हब सबका समन्वित प्रयास हो कि राष्ट्रभाषा हिन्दी को बढ़ावा दिया जाये। डॉ. नरोत्तम मिश्र आज दतिया में हिन्दी महोत्सव में साहित्यकारों को पुरस्कृत कर रहे थे। डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कहा कि हमें गर्व होना चाहिए कि हम हिन्दी भाषी है। हिन्दी समृद्ध भाषा है। इसे बढ़ावा देने के लिए केन्द्र और मध्यप्रदेश सरकार निरंतर प्रयत्नशील है। इस प्रकार के आयोजनों से निष्चित ही हिन्दी भाषा के प्रति लोगों में अभिरूचि बढ़ेगी और जागरूकता आयेगी। पाठ्य पुस्तक निगम के उपाध्यक्ष श्री अवधेश नायक ने बताया कि वर्तमान में 78 प्रतिशत लोग हिन्दी बोलते है 168 देशों में हिन्दी का प्रयोग होता है। फीजी जैसे देशों में हिन्दी दूसरी राष्ट्र भाषा है। श्री ओम प्रकाश श्रीवास्तव 'ओज', श्री जगत शर्मा, श्री राजेश लिटौरिया, श्री राशिद अली आदि उपस्थित रहे


aaजनसम्पर्क कर्मचारी बचत एवं साख समिति का प्रतिभा सम्मान समारोह सम्पन्न


6 October 2017

जनसम्पर्क संचालनालय कर्मचारी बचत एवं साख समिति द्वारा आज मानस भवन में प्रतिभा सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। प्रमुख सचिव, मुख्यमंत्री श्री एस.के. मिश्रा और आयुक्त जनसम्पर्क श्री अनुपम राजन ने मेधावी छात्र-छात्राओं और सेवानिवृत्त अधिकारी-कर्मचारियों को सम्मानित किया। श्री एस.के. मिश्रा ने परिवार में बच्चों के लिये समय देकर उनको अच्छी शिक्षा दिलाने के लिये अधिकारी-कर्मचारियों की सराहना की। उन्होंने मेधावी छात्र-छात्राओं को सम्मानित कर प्रथम श्रेणी और अच्छे अंकों से बोर्ड की परीक्षाओं में सफलता प्राप्त करने पर बच्चों को बधाई दी। प्रतिभा सम्मान समारोह में कक्षा-5 में वर्ष 2015-16 में श्री रोनी सरकार, वर्ष 2016-17 में श्री अर्थव घोड़की, कु. सुनीधि वानखेड़े और कु. अलीना शेख, कक्षा-8वीं में वर्ष 2015-16 में कु. ईशा श्रीवास्तव और श्री हर्ष श्रीवास, वर्ष 2016-17 में कु. कनक घोड़की, कु. कोमल बरखाने और श्री राज अहिरवार को सम्मानित किया गया। कक्षा-10वीं में वर्ष 2015-16 में कु. वरीशा अहमद, श्री मोहित मनवानी, श्री सुमेध वानखेड़े, कु. राजनंदिनी बनोदे, कुँवर इरमीन मंजर, कु. गीतांजलि पाल, श्री अद्वितीय सिंह बिरोरिया, श्री तैय्यब अतीक, श्री गौरव वर्मा, कु. मानसी सिसोदिया और वर्ष 2016-17 के लिये श्री अनंत मिश्रा, कु. जैनब फातिमा, कु. संस्कृति वर्मा और श्री स्वतंत्र शर्मा को सम्मानित किया गया। कक्षा 12वीं के लिये वर्ष 2015-16 में कु. दीक्षा दुबे, कु. दामिनी शर्मा, कु. अनुश्री सरकार, श्री विश्वेन्द्र सिंह गौर और वर्ष 2016-17 के लिये श्री वैभव व्यास, श्री अनिरुद्ध सिंह भदौरिया, कु. तिशा देशमुख और कु. सृष्टि जैन को सम्मानित किया गया। स्नातक उपाधि में वर्ष 2015-16 में श्री अमित पटेल, कु. निधि सिटोके, कु. दीक्षा सिंह गौर, कु. गौरी सिंह बिरोरिया और वर्ष 2016-17 के लिये कु. श्रुति चौधरी, श्री दिव्यांश मोदी, कु. सानिया खान, कु. शिवानी तंवर, कु. अलंकृति वर्मा, कु. कोपल बरखाने को सम्मानित किया गया।


aaबाल यौन हिंसा की घटनाओं का समाज में कड़ा विरोध होना चाहिये


6 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने समाज के सभी वर्गों का आव्हान किया है कि बाल यौन हिंसा की घातक मानसिकता को जड़ से समाप्त करने के लिये एकजुट होकर कार्य करें। उन्होंने कहा है कि यह मानसिकता स्वस्थ समाज के लिये हानिकारक है। इस प्रकार की घटनाओं का समाज में हर स्तर पर कड़ा विरोध होना चाहिये। श्री चौहान ने आज यहाँ तात्या टोपे स्टेडियम में नोबल पुरस्कार विजेता श्री कैलाश सत्यार्थी की 'सुरक्षित बचपन-सुरक्षित भारत' यात्रा के अभिनन्दन समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मासूमों के साथ दुराचार करने वाले अपराधियों को कठोरतम दण्ड दिलाने के लिये राज्य सरकार शीध्र ही विधानसभा से विधेयक पारित कर भारत सरकार को भेजेगी। उन्होंने कहा कि समाज में इस प्रकार की विकृत मानसिकता को समाप्त करने के लिये जन-जगरण अभियान चलाना होगा। सरकार और समाज के सभी वर्गों को मिलकर सार्थक प्रयास करने होंगे। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर बाल मजदूरी प्रथा को भी समाप्त करने के प्रयासों पर बल दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार बच्चों के सपनों को साकार करने के लिये नि:शुल्क शिक्षा, गणवेश, विद्यालय जाने के लिये साईकिल, बालिकाओं के लिये उच्च शिक्षा शिष्यवृत्ति, सभी वर्गों के लिये छात्रवृत्ति, 12वीं के मेधावी बच्चों को लेपटॉप, महाविद्यालय में प्रवेश पर स्मार्ट फोन और मेधावी विद्यार्थियों की शिक्षा की फीस भरवाने आदि की योजनाएं संचालित कर रही है। श्री चौहान ने बच्चों की जिन्दगी संवारने के लिये श्री सत्यार्थी के प्रयासों को त्याग, तपस्या और समर्पण की मिसाल बताया। नोबेल पुरस्कार विजेता श्री कैलाश सत्यार्थी ने इस अवसर पर बताया कि यह यात्रा समाज से बाल हिंसा के कलंक को खत्म करने के लिये आयोजित की जा रही है। यात्रा 11 सितम्बर से प्रारंभ हुई है और देश के 22 राज्यों से होते हुए करीब 11 हजार किलोमीटर की दूरी तय करेगी। श्री सत्यार्थी ने बताया कि यात्रा का समापन 16 अक्टूबर को राष्ट्रपति भवन में होगा। उन्होंने कहा कि यह यात्रा लैंगिक उत्पीड़न के प्रति समाज की मानसिकता को बदलने की सामाजिक एवं सांस्कृतिक क्रांति की प्रतीक है। उन्होंने मुख्यमंत्री श्री चौहान की संवेदनशीलता की सराहना करते हुए कहा कि उनके नेतृत्व में प्रदेश की सरकार और समाज मिलकर बचपन को सुरक्षित करने का आदर्श प्रस्तुत करेगें। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं श्री सत्यार्थी ने डॉक्टर अनिल सिरवैया द्वारा बच्चों के लिए तैयार किए गये नॉलेज कैलेंडर का विमोचन किया।इस अवसर पर यात्रा में शामिल लोगों को बाल हिंसा के विरोध में संघर्ष करने का संकल्प दिलाया गया। कार्यक्रम में श्री कैलाश सत्यार्थी की धर्मपत्नी श्रीमती सुमेधा कैलाश, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस, तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी, सांसद श्री आलोक संजर, जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री राघवेंद्र गौतम और बहुत बड़ी संख्या में स्कूली बच्चे और अभिभावक उपस्थित थे।


aaजनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने पत्रकार श्री खान के निधन पर किया शोक व्यक्त


6 October 2017

जनसंपर्क, जल-संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने वरिष्ठ पत्रकार श्री रज्जब खान के निधन पर दुख व्यक्त किया है। श्री खान दैनिक फौलादी कलम के संपादक थे। मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा कि श्री रज्जब खान ने सक्रिय पत्रकारिता से जुड़कर सामाजिक विषयों को उठाया। जनसंपर्क मंत्री ने श्री खान को श्रद्धाजंलि देते हुए उनके शोक संतप्त परिजन को यह दुख सहने की शक्ति देने की प्रार्थना की है।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा संपादक रज्जब खाँ के निधन पर शोक व्यक्त


6 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने दैनिक फौलादी कलम के संपादक डॉ. रज्जब खाँ के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उल्लेखनीय है कि डॉ. रज्जब खाँ का 69 वर्ष की उम्र में आज भोपाल में उपचार के दौरान निधन हो गया। श्री चौहान ने अपने शोक संदेश में कहा कि डॉ. रज्जब खाँ स्वस्थ पत्रकारिता के पक्षधर थे। उन्होंने सारा जीवन जनता की आवाज को समाचार पत्र के माध्यम से निष्पक्षता और निर्भयता से पेश किया। श्री चौहान ने स्वर्गीय डॉ. रज्जब खाँ की आत्मा की शांति के लिये प्रार्थना की है तथा शोकाकुल परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।


aaमहर्षि वाल्मिकी के बिना भगवान श्री राम का वर्णन अधूरा : मुख्यमंत्री श्री चौहान


5 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने महर्षि वाल्मिकी जयन्ती के अवसर पर आज उज्जैन में श्री वाल्मिकीधाम सिद्धपीठ मन्दिर में महर्षि वाल्मिकी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर पूजन-अर्चना की। मुख्यमंत्री ने परिसर में सन्त स्वामी श्री सोहनदासजी महाराज की समाधि पर भी पुष्प अर्पित किये और वाल्मिकीधाम के संस्थापक सन्त बालयोगी श्री उमेशनाथजी महाराज से उनके आश्रम में भेंटकर आशीष प्राप्त किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर कहा कि मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्री राम की छवि को मानस पटल पर सदा के लिये अंकित करने वाले महर्षि वाल्मिकी हैं। महर्षि वाल्मिकी के बिना भगवान श्री राम का वर्णन अधूरा है। महर्षि वाल्मिकी ने रामायण में भगवान श्री राम के चरित्र का जो वर्णन किया है, वह अदभुत और अविस्मरणीय है। मुख्यमंत्री ने लोगों को वाल्मिकी जयन्ती की शुभकामनाएं दीं। इस दौरान ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन, सांसद डॉ.चिन्तामणि मालवीय, विधायक डॉ.मोहन यादव, महापौर श्रीमती मीना जोनवाल, उज्जैन विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री जगदीश अग्रवाल, मप्र जनअभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डेय, श्री अशोक प्रजापत, श्री सोनू गेहलोत एवं जनप्रतिनिधि मौजूद थे।
गुरू टेकचन्दजी महाराज के समाधि महोत्सव में शामिल हुए मुख्यमंत्री -
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि दामोदर (दर्जी) समाज के कल्याण के लिये सिलाई कला मण्डल का गठन कर दिया गया है। शीघ्र ही इसमें नियुक्ति की जाएगी। उन्होंने कहा कि दामोदर समाज को समय के साथ कदम ताल करते हुए आगे बढ़ना होगा। फैशन जगत से जुड़कर सिलाई कला को आधुनिक बनाने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दामोदर समाज के मेधावी विद्यार्थियों को आगे पढ़ाई के लिये छात्रवृत्ति दी जाएगी। अन्य व्यवसाय करने के इच्छुक युवाओं को मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना के तहत 10 लाख से लेकर दो करोड़ रूपये तक का ऋण उपलब्ध कराया जाएगा एवं ऋण की गारंटी राज्य सरकार देगी। श्री चौहान उज्जैन तहसील के ग्राम कड़छा में दामोदरवंशीय गुजराती दर्जी समाज के गुरू श्री टेकचन्दजी महाराज के समाधि महोत्सव में शामिल हुए। इस अवसर पर सांसद डॉ.चिन्तामणि मालवीय, विधायक श्री सतीश मालवीय, श्री मनोज पटेल एवं समाज के पदाधिकारीगण, मौजूद थे।
कड़छाधाम तीर्थ-स्थल के रूप में विकसित होगा -
श्री चौहान ने कहा कि कड़छाधाम को धार्मिक तीर्थ-स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने ताजपुर चौपाटी से कड़छाधाम तक के लिये सड़क निर्माण कराने की घोषणा की। मुख्यमंत्री की अगवानी ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन एवं अन्य जनप्रतिनिधियों ने की। इस अवसर पर सांसद डॉ.चिन्तामणि मालवीय, महापौर श्रीमती मीना जोनवाल, विधायक श्री अनिल फिरोजिया, यूडीए अध्यक्ष श्री जगदीश अग्रवाल, श्री इकबालसिंह गांधी, श्री राजपालसिंह सिसौदिया सहित जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaजीवन सफल होना पर्याप्त नहीं, सार्थक होना जरूरी : मुख्यमंत्री श्री चौहान


5 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि व्यक्ति का जीवन केवल सफल होना पर्याप्त नहीं है, बल्कि सार्थक होना जरूरी है। समाज में नैतिकता की स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि शिक्षा व्‍यवस्था ऐसी होनी चाहिए जो इंसानियत का पाठ पढ़ाये और देवत्व को खोजने की क्षमता प्रदान करे। मुख्यमंत्री आज यहाँ श्री सत्य सांई सेवा संगठन द्वारा आयोजित भक्त सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान ने कहा कि श्री सत्य सांई बाबा ने सुखी मानवता का संदेश दिया है। सभी प्राणियों में देवत्व की क्षमता के दर्शन कराये हैं। उन्होंने कहा कि काम, क्रोध, लोभ, मोह-माया का त्याग कर मानवता की सेवा, भक्ति और साधना से ही देवत्व के दर्शन होते हैं। मुख्यमंत्री ने गुणवत्तापूर्ण शिक्षा व्यवस्था लागू करने और कुपोषण जैसी समस्याओं के समाधान के लिये सत्य सांई सेवा संगठन को सहयोग के लिये आमंत्रित किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्री सत्य सांई बाबा का स्मरण करते हुए कहा कि उन्होंने छोटे से गाँव में रहते हुए दुनिया के कोने-कोने तक मानव समाज में सेवा और स्नेह की भावना को पहुँचाया। श्री चौहान ने मानवता की रक्षा के लिये श्री सत्य सांई बाबा के आदर्शों को अपनाने पर बल दिया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर प्रदेश में जन-कल्याण और विकास के क्षेत्र में किये जा रहे नवाचारों से भक्तजनों को अवगत कराया। श्री सत्य सांई सेवा संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री निमिष पंडया ने संगठन की गतिविधियों की जानकारी दी। उन्होंने मध्यप्रदेश में नर्मदा सेवा और बाल विकास के क्षेत्र में सरकार को सहयोग देने का आश्वासन दिया। संगठन के प्रांतीय अध्यक्ष श्री भरत झवेरी ने बताया कि पिछले एक वर्ष में संगठन द्वारा स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में विशेष प्रयास किये गये हैं। कार्यक्रम में लघु वृत्त चित्र 'मूवमेंट्स ऑफ लव एण्ड हयूमेनिटी' का प्रदर्शन किया गया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर चार पुस्तकों का विमोचन किया। सम्मेलन में सत्य सांई महिला महाविद्यालय की चेयर पर्सन श्रीमती मीरा पिंपालापुरे, भेल के कार्यपालक निदेशक श्री डी.के. ठाकुर, राष्ट्रीय समन्वयक श्रीमती कमला पंड्या, श्री जम्बू भंडारी एवं बड़ी संख्या में श्री सांई संगठन के पदाधिकारी, सदस्य एवं भक्तगण उपस्थित थे।


aaभोपाल के निर्माणाधीन आरओबी शीघ्र पूर्ण होंगे


5 October 2017

सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने कहा कि भोपाल नगर के निर्माणधीन आरओबी का कार्य शीघ्र पूर्ण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रस्तावित आरओबी के निर्माण को भी शीघ्र शुरू किया जाएगा। राज्य मंत्री श्री सारंग आज भोपाल रेल मंडल और लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों के साथ निर्माणाधीन आरओबी की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे। श्री सारंग ने छोला क्षेत्र में रेलवे ओव्हर ब्रिज के संबंध में डीआरएम रतलाम को पत्र लिखने के लिये कलेक्टर भोपाल को निर्देश दिये। राज्य मंत्री श्री सारंग ने आज डीआरएम भोपाल के साथ चेतक ब्रिज, सुभाष नगर, रचना नगर, शंकराचार्य नगर और छोला आरओबी के संबंध में भी चर्चा की। बैठक के डीआरएम ने बताया कि जिला प्रशासन से डीआरएम रतलाम को छोला आरओबी के संबंध में प्रस्ताव संबंधी पत्र भेजा जाना है। लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री के प्रस्ताव पर कलेक्टर भोपाल को पत्र लिखना है। इस संबंध में राज्य मंत्री श्री सारंग ने कलेक्टर भोपाल से दूरभाष पर चर्चा की। श्री सारंग ने सुभाष नगर आरओबी के तहत रेलवे के हिस्से के निर्माण पर हो रहे विलम्ब पर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि पीडब्ल्यूडी द्वारा किये जाने वाले निर्माण कार्य को लगभग पूरा कर दिया गया है। रेलवे द्वारा भी बचे हुए कार्य को जल्दी पूरा किया जाए। उन्होंने चेतक ब्रिज आरओबी रेलवे के हिस्से के निर्माण कार्य को शीघ्र शुरू कराने और समय पर पूरा करने को कहा। श्री सारंग ने कहा कि रचना नगर अण्डर ब्रिज की मरम्मत कर दूसरा भाग दो पहिया वाहन के आवागमन के लिये बनाया जाए। उन्होंने शंकराचार्य नगर आरओबी की मरम्मत करने और छोला आरओबी का काम जल्द शुरू करने के लिये कहा। डीआरएम श्री शोभन चौधरी ने कहा कि रेलवे द्वारा कार्य शीघ्र शुरू कर पूरे किये जाएगे। बैठक में भोपाल रेल मंडल और लोक निर्माण विभाग के अधिकारी मौजूद थे।


aaकिसानों को जरूरत के मुताबिक क्राप पैटर्न बदलना होगा: मुख्यमंत्री श्री चौहान


4 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश सरकार किसानों के कल्याण और विकास के लिए निरंतर काम कर रही है। किसानों के हितों की रक्षा के लिये ही भावांतर भुगतान योजना लागू की गई है। इसके अंतर्गत बिक्री मूल्य और समर्थन मूल्य के अंतर की राशि सरकार द्वारा किसान के बैंक खाते में जमा की जाएगी। श्री चौहान ने कहा है कि कम वर्षा वाले क्षेत्रों में किसानों की हरसंभव मदद की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को जरूरत के मुताबिक क्राप पैटर्न बदलना होगा। श्री चौहान रायसेन जिले के अंतर्गत देवरी में आयो‍जित किसान महासम्मेलन में विशाल जन-समुदाय को संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान ने बताया कि आज प्रदेश में 26 लाख लाड़ली बेटियां लखपति बन गई हैं। महिलाओं को पंचायतों एवं नगरीय निकायों में 50 प्रतिशत आरक्षण देने से महिलाओं में नेतृत्व क्षमता बढ़ी है। पुलिस में महिलाओं को 30 प्रतिशत आरक्षण दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कक्षा 12वीं में 85 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले छात्रों को लैपटॉप दिया जा रहा है और कॉलेज में प्रवेश करने पर स्मार्ट फोन प्रदान करने की योजना चलाई जा रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि पहले विद्युत वितरण कम्पनी में जले हुए ट्रांसफार्मर बदलने के लिए 50 प्रतिशत राशि जमा करना अनिवार्य होता था। अब केवल 20 प्रतिशत राशि जमा करने पर ही ट्रांसफार्मर को बदल दिया जाएगा। श्री चौहान ने कहा कि किसानों को निःशुल्क खसरे की नकल प्रदान की जा रही है। अविवादित नामांतरण बंटवारे के लिए तीन माह की समय सीमा निर्धारित की गई है। यदि कोई व्यक्ति यह बताएगा कि उसका निर्धारित समय सीमा में अविवादित नामांतरण नहीं हुआ है, तो उसे एक लाख रूपए का ईनाम दिया जाएगा। श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में अब सबका अपना घर होगा। इसके लिए आवासीय पट्टे और प्रधानमंत्री आवास तथा मुख्यमंत्री आवास योजना के अंतर्गत आवास स्वीकृत किये जा रहे हैं। रायसेन जिले में अभी तक 21 हजार आवास स्वीकृत किए जा चुके हैं। मुख्यमंत्री ने महासम्मेलन में विभिन्न योजनाओं के हितग्राहियों को हितलाभ वितरित किए। मुख्यमंत्री ने देवरी को नगर पंचायत बनाने, देवरी तहसील टप्पा को पूर्ण तहसील का दर्जा देने और रायसेन जिले के सिलवानी, उदयपुरा तथा बरेली जनपद के 223 गांवों और नरसिंहपुर के 102 गांवों के लिए 1800 करोड़ रूपए की माइक्रो इरीगेशन योजना स्वीकृत करने की घोषणा की। उन्होंने उदयपुरा नगर पंचायत को ओडीएफ होने का प्रमाण पत्र दिया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर 4205.35 लाख रूपए लागत के विभिन्न निर्माण एवं विकास कार्यो का शिलान्यास तथा 645.74 लाख रूपये लागत के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण भी किया। किसान महासम्मेलन में होशंगाबाद सांसद श्री उदयप्रताप सिंह, लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, विधायक श्री रामकिशन पटेल, मध्यप्रदेश राज्य खनिज निगम के अध्यक्ष श्री शिव कुमार चौबे, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती अनीता किरार, उदयपुरा नगर पंचायत अध्यक्ष श्री केशव पटेल, उदयपुरा जनपद अध्यक्ष श्री वीरेन्द्र सिंह उपस्थित थे।


aaजेल प्रहरी निष्ठा और दक्षता के साथ दायित्व निभायें


4 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जेल प्रहरी निष्ठा, कर्त्तव्य परायणता, दक्षता और ईमानदारी के साथ अपना दायित्व निभायें। जेल प्रहरियों की दीक्षांत परेड देखकर यह विश्वास होता है कि वे अपने दायित्वों के निर्वहन में सक्षम है। श्री चौहान आज लाल परेड ग्राउंड में वर्ष 2016 बैच के नव प्रशिक्षित जेल प्रहरियों की दीक्षांत परेड-2017 को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सजग सुरक्षा और सुधार जेल विभाग का लक्ष्य है। जेलों में सुरक्षा व्यवस्था को अत्याधुनिक बनाया गया है। प्रहरियों को आधुनिक हथियारों से लैस किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जेल समाज की शांति के लिए कार्य करते हैं। वहाँ कई ऐसे दुर्दांत अपराधी भी रहते हैं जो यदि जेलों से बाहर चले जाएं तो वे समाज के लिए घातक होते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि जेलों में परिस्थितिजन्य अपराधी भी होते हैं। इसलिये प्रहरियों को परिस्थितियों के अनुरूप बंदियों के साथ व्यवहार करना होगा। उन्होंने कहा कि बुरे से बुरे व्यक्ति में भी अच्छी भावनाएँ होती हैं। बंदियों की अच्छी भावनाओं को पोषित और प्रोत्साहित करके उन्हें एक अच्छे इंसान के रूप में जेल से समाज में भेजने में जेलों की भूमिका महत्वपूर्ण है। इस दिशा में जेल सुधार के लिए निरंतर चिंतन किया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने प्रहरियों को उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि कर्त्तव्य पथ पर सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेंगे, इसका उन्हें विश्वास है। शहीद प्रहरी रमाशंकर सिंह का स्मरण करते हुए श्री चौहान ने कहा कि उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाने देंगे। सरकार सदैव उनके परिवार के साथ है। उल्लेखनीय है कि शहीद प्रहरी के परिजनों को 25 लाख रुपए की सहायता और शासकीय सेवा के साथ ही शहीद प्रहरी की पुत्री के विवाह में मुख्यमंत्री ने स्वयं बारातियों का स्वागत किया था। श्री चौहान ने कहा कि समारोह में महिला प्रहरियों के प्रदर्शन ने यह सिद्ध किया है कि वे हर परिस्थिति का सामना कर सकती हैं। पुलिस में उनके लिए 33 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था करना सरकार का सही और सफल निर्णय है। उन्होंने कहा कि प्रहरियों का जीवन स्वयं और उनके परिवार के लिए ही नहीं, अपितु देश और समाज में सुरक्षा का वातावरण बनाए रखने के लिये भी है। मुख्यमंत्री ने प्रहरियों से अपील की कि वे देश और समाज की सेवा के लिए त्याग का जज्बा रखें। प्रारंभ में मुख्यमंत्री ने परेड का निरीक्षण कर आकर्षक मार्च पास्ट की सलामी ली। नव प्रशिक्षित जेल प्रहरियों की शौर्य कौशल प्रदर्शन प्रस्तुतियों का अवलोकन किया और पुरस्कारों का वितरण किया। महानिदेशक जेल श्री संजय चौधरी ने बताया कि समारोह में 710 जेल प्रहरी भाग ले रहे हैं। इनमें 500 पुरुष और 210 महिला प्रहरी हैं। उन्होंने बताया कि जेल प्रहरियों ने पहली बार पुलिस और अर्धसैनिक बल प्रशिक्षण केंद्रों में आधारभूत प्रशिक्षण प्राप्त किया हैं। जेलों की व्यवस्थाओं को निरंतर बेहतर बनाने के लिये उपलब्ध संसाधनों का पूरी सजगता से उपयोग किया जा रहा है। सुधार के कार्य गंभीरता से किए जा रहे हैं। अपर महानिदेशक जेल श्री जी. आर. मीणा ने नव दीक्षित प्रहरियों को संविधान के प्रति निष्ठा की शपथ दिलाई। कार्यक्रम में पुलिस महानिदेशक श्री आर. के. शुक्ला, अपर मुख्य सचिव गृह श्री के. के. सिंह, अपर मुख्य सचिव जेल श्री विनोद सेमवाल सहित बड़ी संख्या में पुलिस एवं जेल विभाग के वरिष्ठ अधिकारी और नव प्रशिक्षित प्रहरियों के परिजन उपस्थित थे।


aaनगरीय विकास मंत्री श्रीमती सिंह की अध्यक्षता में हुई "गंदगी-मुक्त मध्यप्रदेश समिति की पहली बैठक


4 October 2017

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह की अध्यक्षता में मंत्रालय में 'गंदगी-मुक्त मध्यप्रदेश'' समिति की पहली बैठक हुई। बैठक में पर्यटन एवं संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा उपस्थित थे। उल्लेखनीय है कि प्रदेश के चहुँमुखी विकास का रोडमेप तैयार करने के उद्देश्य से मंत्रीगण और अधिकारियों की 14 अलग-अलग समिति का गठन किया गया है। मंत्री श्रीमती माया सिंह ने कहा कि गंदगी-मुक्त मध्यप्रदेश के लक्ष्य को स्वच्छ भारत मिशन (शहरी एवं ग्रामीण) को समेकित रूप से समयबद्ध कार्य-योजना बनाकर प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने समुदाय आधारित निगरानी व्यवस्था को मजबूत कर व्यवहार परिवर्तन के लिए जन-जागरूकता गतिविधियाँ लगातार संचालित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि समिति 15 अक्टूबर तक मुख्यमंत्री के समक्ष आवश्यकता आकलन, वर्तमान स्थिति, प्रभावी क्रियान्वयन, समयबद्ध कार्य-योजना एवं बेस्ट प्रेक्टिस पर आधारित प्रतिवेदन प्रस्तुत करेगी। अपर मुख्य सचिव ग्रामीण विकास श्री आर.एस. जुलानिया ने ग्रामीण स्वच्छता के प्रमुख घटकों तथा महत्वपूर्ण बिन्दु पर चर्चा की। सचिव नगरीय विकास श्री विवेक अग्रवाल ने शहरी स्वच्छता के अंतर्गत ठोस और तरल अपशिष्ट प्रबंधन, खुले में शौच की स्थिति की संवहनीयता सहित सभी घटकों पर एक से 5 वर्षीय समयबद्ध रोडमेप प्रस्तुत किया।


aaबच्चों की सुरक्षा के लिये परिवार और समाज भी जिम्मेदार-मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस


4 October 2017

महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा है कि प्रत्येक जिले में एक-एक शासकीय बालगृह आरंभ किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हिंसा से पीड़ित महिलाओं को कानूनी, मनोवैज्ञानिक, चिकित्सीय मदद एक स्थान पर उपलब्ध कराने के लिए प्रदेश में वन स्टॉप सेंटर आरंभ किये गये हैं। इनका विस्तार अधिक से अधिक जिलों में किया जा रहा है। श्रीमती चिटनिस नोबल शांति पुरस्कार से सम्मानित श्री कैलाश सत्यार्थी द्वारा सुरक्षित बचपन-सुरक्षित भारत विषय पर भारत यात्रा के अंतर्गत बरकतउल्ला विश्वविद्यालय में आयोजित सानिध्य सभा को संबोधित कर रही थीं। इस अवसर पर श्री कैलाश सत्यार्थी को बरकतउल्ला विश्वविद्यालय द्वारा डॉक्टर ऑफ साइंस की मानद उपाधि से सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के अध्यक्ष न्यायमूर्ति श्री दलीप सिंह, बरकतउल्ला विश्वविद्यालय के कुलपति श्री पी.के. वर्मा, बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष श्री राघवेन्द्र शर्मा तथा पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ल भी उपस्थित थे। श्रीमती चिटनिस ने कहा कि बच्चों की सुरक्षा का विषय सरकार और कानून का तो है ही पर सबसे पहले यह विषय परिवार और समाज का है। भौतिकता, आधुनिक शिक्षा व्यवस्था तथा तकनीकी विकास से समाज में आये बदलावों को देखते हुए हमारे लिये बाल यौन शोषण के खिलाफ जागरूक होकर जिम्मेदारी निभाने का समय है। श्री कैलाश सत्यार्थी ने कहा कि गरीबी और जात-पात के नाम पर सदियों से बच्चों की गुलामी चली आ रही है। बच्चों ने जब मानव समाज के लिए कोई समस्याएँ उत्पन्न नहीं की हैं तो उनके साथ मानवीय गरिमा का हनन क्यों हो और उनके इंसान होने के वजूद पर प्रश्नचिन्ह क्यों है। श्री सत्यार्थी ने कहा कि बाल यौन शोषण भारत के लिए एक बड़ी चुनौती है। इसका सामना हम संकल्प शक्ति और जागरूकता के बल पर ही कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि भारत यात्रा भय के खिलाफ एक महायुद्ध है। हमें यह सोचना होगा कि हमारे सांस्कृतिक मूल्य भय से संचालित होंगे या हम एक भयमुक्त भारत बनायेंगे। श्री सत्यार्थी ने इस अवसर पर बाल यौन शोषण के खिलाफ शपथ भी दिलवाई। न्यायमूर्ति श्री दलीप सिंह ने कहा कि बाल शोषण के पीड़ित को आरंभिक स्तर पर ही संरक्षण देना आवश्यक है। पुलिस महानिरीक्षक श्री शुक्ला ने बच्चों की सुरक्षा की दिशा में पुलिस के साथ-साथ समाज को सक्रिय और जागरूक होने की आवश्यकता बताई।


भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. संबित पात्रा 5 अक्टूबर को भोपाल में ‘‘”राष्ट्रीय सुरक्षा और मानवता” विषय पर संवाद में भाग लेंगे


3 October 2017

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं सामाजिक, राजनीतिक विषयों के प्रखर प्रवर्तक डॉ. संबित पात्रा 5 अक्टूबर को प्रातः 7.30 बजे वायुयान द्वारा भोपाल पहुचेंगे। वे यहां सरोकार समिति द्वारा आयोजित राष्ट्रीय सुरक्षा और मानवता विषय पर अपना व्याख्यान देंगे। सरोकार समिति के अध्यक्ष और भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता श्री राहुल कोठारी ने बताया कि आज का राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य, आतंकवाद और रोहिंग्या घुसपैठ जैसे विभिन्न प्रकार के संघर्षों से घिरा हुआ है। इन संघर्षों के चलते भारत सहित वैश्विक मानवता को गंभीर खतरे पैदा हो गये हैं। इन परिस्थितियों में सामाजिक चेतना जागृति के द्वारा निश्चित ही विश्व को विभीषिका से बचाया जा सकता है। इन्हीं प्रयासों के तहत इस संवाद “राष्ट्रीय सुरक्षा एवं मानवता” कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। यह कार्यक्रम 5 अक्टूबर को होटल पलाश, भोपाल में दोपहर ठीक 12 बजे प्रारंभ होगा। इस अवसर पर विशेष रूप से मेजर जनरल एस.आर.सिन्हो (रिटा.) एवं अन्य अतिथिगण उपस्थित रहेंगे। उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व भी सरोकार समिति महत्वपूर्ण कार्यक्रमों के आयोजन कर चुकी है। इन कार्यक्रमों में युवा उपन्यासकार चेतन भगत, प्रसिद्ध अभिनेता मनोज जोशी, अंतर्राष्ट्रीय धावक सुश्री पी.टी. ऊषा, सांसद अनुराग ठाकुर को आमंत्रित किया जा चुका है। समिति द्वारा हाल ही में सर्वाधिक ज्वलंत विषय ब्लू व्हेल पर भी कार्यशाला का आयोजन किया गया था।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान वंदे मातरम् कार्यक्रम में शामिल हुये


3 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आज मंत्रालय के वल्लभ भवन उद्यान में आयोजित वंदे मातरम् कार्यक्रम में शामिल हुये। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव श्री प्रभांशु कमल, श्री दीपक खांडेकर सहित मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी एवं अन्य अधिकारी-कर्मचारी मौजूद थे।


aaएक साथ 10 नेशनल अवार्ड मिलना बड़ी उपलब्धि-मुख्यमंत्री श्री चौहान


3 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को आज मंत्रि-परिषद की बैठक में पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा ने पर्यटन विभाग को प्राप्त 10 नेशनल अवार्ड सौंपे। इस अवसर पर बताया गया कि आगामी 25 अक्टूबर को मंत्रि-परिषद बैठक का आयोजन ओंकारेश्वर के निकट नव-विकसित सैलानी रिसॉर्ट में होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्रि-परिषद की बैठक के उपरांत टीम पर्यटन से मंत्रालय में भेंट कर चर्चा की और उनको अभूतपूर्व उपलब्धि के लिये बधाई और शुभकामनाएँ दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पर्यटन की टीम बहुत अच्छा काम कर रही है। एक साथ 10 राष्ट्रीय पुरस्कार मिलना बड़ी उपलब्धि है। प्रदेश के विकास में पर्यटन का स्थान प्रमुख है। यह रोजगार सृजन का बड़ा जरिया है। उन्होंने 6 अक्टूबर से प्रारंभ 'पर्यटन पर्व' के दौरान पर्यटन गतिविधियों का व्यापक स्तर पर संचालन करने के लिये कहा। उन्होंने कहा कि पूरे उत्साह और जज्बे के साथ कार्य किये जाये। पर्यटन सचिव श्री हरि रंजन राव ने बताया कि राज्य स्तरीय अवार्ड समारोह आगामी 15 अक्टूबर को हनुवंतिया पर्यटन केन्द्र में होगा। उन्होंने बताया कि विश्व पर्यटन दिवस के मौके पर मध्यप्रदेश को एक साथ 10 राष्ट्रीय अवार्ड प्राप्त हुए। नेशनल अवार्ड वितरण समारोह में मध्यप्रदेश में आयोजित ‘जल-महोत्सव हनुवंतिया को मोस्ट इनोवेटिव टूरिस्ट प्रोडक्ट’ और मध्यप्रदेश टूरिज्म को हाल ऑफ फेम का बेस्ट स्टेट फॉर एडवेंचर टूरिज्म का राष्ट्रीय अवार्ड प्राप्त हुआ। ‘चंदेरी को बेस्ट हेरिटेज सिटी’, खरगौन को सिविक मैनेजमेंट ऑफ टूरिस्ट डेस्टिनेशन ऑफ इंडिया का, उज्जैन रेलवे स्टेशन को टूरिस्ट फ्रेंडली रेलवे स्टेशन और इंग्लिश कॉफी टेबल बुक को एक्सिलेंस इन पब्लिशिंग का राष्ट्रीय अवार्ड प्राप्त हुआ। इसी प्रकार बेस्ट फिल्म प्रमोशन फ्रेंडली स्टेट/यूनियन टेराटोरी में फिल्म प्रमोशन पॉलिसी का राष्ट्रीय अवार्ड भी मध्यप्रदेश पर्यटन को प्राप्त हुआ। सिंहस्थ 2016 में मध्यप्रदेश पर्यटन द्वारा प्रकाशित हिन्दी ब्रोशर को एक्सीलेंस इन पब्लिशिंग इन हिन्दी ब्रोशर का राष्ट्रीय अवार्ड प्राप्त हुआ। बेस्ट वाइल्ड लाइफ गाइड का राष्ट्रीय पुरस्कार पचमढ़ी के श्री सईब खान को प्राप्त हुआ। इस अवसर पर पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा, पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष श्री तपन भौमिक, पर्यटन निगम की प्रबंध संचालक श्रीमती छवि भारद्वाज, अपर प्रबंधक संचालक डॉ. श्रीकांत पाण्डेय, मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड और निगम के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


aaप्रदेश के सभी नगरीय निकाय खुले में शौच से मुक्त


3 October 2017

नगरीय विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने प्रदेश के सभी 378 नगरीय निकायों को खुले में शौच से मुक्त होने पर प्रसन्नता व्यक्त की है। उन्होंने इस उपलब्धि के लिये नगरीय निकायों के पदाधिकारियों एवं स्थानीय लोगों का आभार व्यक्त किया है। श्रीमती माया सिंह ने कहा है कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिह चौहान के नेतृत्व में वर्ष 2018 तक मध्यप्रदेश राज्य खुले में शौच से पूर्ण रूप से मुक्ति पा लेगा। उन्होंने कहा कि स्वच्छता अभियान से लोगों की मानसिकता में परिवर्तन आया है, लोग अपने गाँव और शहरों को स्वच्छ रखने के लिए प्रेरित हुए है, शौचालय का उपयोग करने की मानसिकता विकसित हुई है। नगरीय विकास मंत्री ने कहा है कि स्वच्छता सर्वेक्षण में भारत के सौ शहरों में मध्यप्रदेश के 22 शहरों का चुना जाना प्रदेश के लिये गौरव की बात है। उन्होंने बताया कि सभी नगरीय क्षेत्रों में अभी तक 4 लाख 80 हजार व्यक्तिगत शौचालय बनवाए गए हैं। इस वित्त वर्ष में लगभग 2 लाख व्यक्तिगत शौचालय निर्माण का लक्ष्य है। उल्लेखनीय है कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के सफल क्रियान्वयन के लिए राज्य सरकार द्वारा निकायों को 20 प्रतिशत अनुदान तथा 30 प्रतिशत तक राशि यदि आवश्यक हो तो 5 प्रतिशत ब्याज पर ऋण दिये जाने, व्यक्तिगत शौचालय के लिए हितग्राही को 6,880 रुपये तथा सामुदायिक और सार्वजनिक शौचालय के लिए निकाय को 32 हजार 500 रुपये प्रति सीट का अनुदान दिया जाता है।


aaहोशंगाबाद जिला हुआ खुले में शौच से पूर्णत: मुक्त : मुख्यमंत्री श्री चौहान


2 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज होशंगाबाद में आयोजित समारोह में होशंगाबाद जिले के खुले में शौच से पूर्णत: मुक्त (ओ.डी.एफ) होने की घोषणा की। उन्होंने इस अवसर पर आयोजित सम्मान समारोह में कहा कि जहां स्वच्छता का वास होता है, वहां ईश्वर का वास होता है। स्वच्छता के दूत महात्मा गांधी एवं पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय लाल बहादुर शास्त्री को स्मरण करते हुए उन्होने कहा कि गांधी जी स्वयं स्वच्छता के हिमायती थे। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने स्वच्छता के प्रति देशवासियों का नजरिया बदल दिया है। पहले लोग सड़कों पर, दफ्तरों में कचरा फैलाया करते थे, किन्तु अब लोगों का नजरिया बदल गया है। अब लोग कचरा डस्टबिन में डालते हैं। मुख्यमंत्री ने होशंगाबाद की सभी ग्राम पंचायतों के खुले में शौच मुक्त होने की सराहना करते हुए कहा कि यह सब यहां की जनता, जन-प्रतिनिधियों, जिला प्रशासन और पंचायत कर्मियों के प्रयासों से ही संभव हो पाया है। उल्लेखनीय है कि होशंगाबाद जिले की 424 ग्राम पंचायत खुले में शौच से मुक्त हो चुकी हैं। इन ग्राम पंचायातों में 883 गांव शामिल हैं। ग्रामीण विकास विभाग एवं जिला प्रशासन द्वारा इन ग्राम पंचायतों में 57 हजार 855 शौचालयों का निर्माण कराया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि शौचालय तो बन गये हैं, लोग उनका उपयोग भी करें। शौचालय का उपयोग करने की आदत डालें। शौचालय में भी साफ-सफाई रखें और अपने हाथ साबुन से अवश्य धोएं। श्री चौहान ने कहा कि हमें अब अपनी मानसिकता बदलनी होगी। इससे हमारे घर की मर्यादा भी बनी रहेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होने नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान प्रण किया था कि मां नर्मदा को स्वच्छ बनाएंगे। इसके लिये सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट हेतु 155 करोड़ रुपये की राशि स्वीकृत की गई है। सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट से सीवेज के पानी को शुद्ध कर खेती में उपयोग किया जाएगा। इस बात का विशेष ध्यान रखा जाएगा की सीवेज के पानी की एक बूंद भी मां नर्मदा में न मिले। श्री चौहान ने कहा कि स्वच्छता के मामले में इंदौर जिला देश का नम्बर एक जिला घोषित हुआ है। उन्होने नगरपालिका अध्यक्ष श्री अखिलेश खंडेलवाल को निर्देश दिये कि स्वच्छता के मामले में होशंगाबाद जिले को देश का अव्वल जिला बनायें। मुख्यमंत्री ने प्रदेश मे बनाये गये 2 लाख प्रधानमंत्री आवासों की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह सब पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अथक प्रयासों से संभव हो सका है। आने वाले 4-5 वर्षों मे हर गरीब के पास पक्की छत होगी। उन्होंने कहा कि रेत खनन की अनुमति अब ग्राम पंचायतें देंगी। स्वच्छता समारोह में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जन-स्वच्छता दूत बनने पर जिला पंचायत के अध्यक्ष श्री कुशल पटेल, कलेक्टर श्री अविनाश लवानिया, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री पी.सी.शर्मा एवं जिला समन्वयक की पूरी टीम को मुख्यमंत्री स्वच्छता सम्मान पुरस्कार प्रदान किया। इसके अलावा अनुविभागीय अधिकारियों, मुख्य कार्यपालन अधिकारियों एवं ब्लॉक को-ऑर्डिनेटर्स को पुरस्कार प्रदान किये। मुख्यमंत्री ने स्वच्छ ग्राम पंचायत पुरस्कार से सरपंचों को पुरस्कृत किया। मुख्यमंत्री ने गांव-गांव स्वच्छता का अलख जगाने वाली बालटोली मुहांसा को स्वच्छता का प्रमाण पत्र प्रदान किया। किशोरी स्वच्छता पुरस्कार के अंतर्गत मुख्यमत्री ने प्रियंका यदुवंशी को तथा स्वच्छता का संदेश घर-घर पहुँचाने वाली भजन मंडली झंकर पगढाल को तथा किशोरी टोली की बालिकाओ को भी पुरस्कार प्रदान किया। उन्होने प्रेरक मंडल प्रणेताओं को सम्मनित किया। इस अवसर पर मध्यप्रदेश विधानसभा अध्यक्ष डा.सीताशरण शर्मा ने आशा व्यक्त की कि मध्यप्रदेश स्वच्छता के क्षेत्र में देश का अव्वल राज्य बनेगा। पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि प्रदेश में सभी तहसील शत-प्रतिशत सिंचाई की स्थिति में हैं। प्रदेश में सड़कों का जाल बिछाया गया है। अगले वर्ष 52 हजार गांव पुल-पुलियों से जुड़ जायेंगे। प्रधानमंत्री आवास बनाने में मध्यप्रदेश देश का नंबर वन राज्य बन गया है। श्री भार्गव ने कहा कि आने वाले समय में समूचा प्रदेश खुले में शौच से मुक्त हो जाएगा। समारोह का शुभारंभ मुख्यमंत्री श्री चौहान ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा पर दीप प्रज्जवलित कर किया। जिला पंचायत अध्यक्ष श्री कुशल पटेल ने अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम में खाद्य प्रसंस्करण, उद्यानिकी एवं वन राज्यमंत्री श्री सूर्य प्रकाश मीणा, खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे, मध्यप्रदेश वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन के अध्यक्ष श्री राजेन्द्र सिंह, विधायक श्री सरताज सिंह, श्री विजयपाल सिंह, श्री ठाकुरदास नागवंशी, पूर्व राजस्व मंत्री श्री मधुकरराव हर्णे, राज्य अंत्योदय समिति के सदस्य श्री हरिशंकर जायसवाल, स्थानीय जनप्रतिनिधि सहित अपर मुख्य सचिव श्री आर.एस.जुलानिया भी उपस्थित थे।
सूदखोरों के विरूद्ध इसी सत्र में कानूनी प्रावधान तय होंगे -
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वच्छता सम्मान समारोह में जिले में विभिन्न निर्माण कार्यो का लोकार्पण एवं भूमि-पूजन किया। उन्होंने कन्याओं का पूजन करते हुए कहा कि सरकारी नौकरियों में बेटियों के लिए 50 प्रतिशत सीटें आरक्षित की गई हैं। किसानों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कम वर्षा को देखते हुए कम पानी वाली फसल लें और फसल बदल-बदल कर बोनी करें। उन्होंने कहा कि जल्द ही जगह-जगह कस्टम हायरिंग सेंटर खोले जाएंगे। किसानों को परेशान करने वाले सूदखोरो के विरूद्ध इसी सत्र में कानूनी प्रावधान तय होंगे। उन्होंने हर व्यक्ति को स्वच्छता की आदत अपनाने की सीख दी और स्वच्छता की शपथ भी दिलाई। मुख्यमंत्री ने विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीताशरण शर्मा से उनके घर पहुँचकर भेंट की। तत्पश्चात मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय विद्यालय में पौध रौपण भी किया।
मुख्यमंत्री ने सफाई कामगारों को खुद परोसा भोजन -
श्री शिवराज सिंह चौहान होशंगाबाद में एसएनजी स्कूल मैदान परिसर में आयोजित समरसता भोज में शामिल हुए। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्म दिवस पर आयोजित इस सहभोज में मुख्यमंत्री ने सफाई कामगार भाईयों तथा बहनों को अपने हाथों से भोजन परोसा तथा खिलाया। उन्होंने सफाई कामगार के हाथ भोजन ग्रहण कर समरसता भोज में भागीदारी की। उन्होंने कहा कि नगर को स्वच्छ रखकर भगवान से भेंट कराने वाले हमारे सफाई कामगार ही है। समरसता भोज में विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीताशरण शर्मा, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव, जिले के प्रभारी मंत्री श्री सूर्यप्रकाश मीणा, विधायक श्री विजय पाल सिंह, श्री ठाकुरदास नागवंशी, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री कुशल पटेल, नगरपालिका अध्यक्ष श्री अखिलेश खंडेलवाल, पूर्व मंत्री श्री मधुकर हर्णे, श्री हरिशंकर जयसवाल, पार्षद गण तथा जनप्रतिनिधि शामिल हुए।


aaउद्योग और व्यापार के क्षेत्र में आयें बाल्मिकी समाज के युवा: मुख्यमंत्री श्री चौहान


2 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने बाल्मिकी समाज के युवाओं से कहा है कि उद्योग और व्यापार के क्षेत्र में आयें। उन्हें राज्य सरकार द्वारा उद्योग लगाने के लिये दो करोड़ रूपये तक का ऋण उपलब्ध कराया जाएगा। सफाई कामगार आयोग को और अधिक सशक्त बनाया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ राज्य स्तरीय बाल्मिकी समाज के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बाल्मिकी समाज का उपकार देश कभी भूल नही सकता। उन्होंने सफाई कामगार आयोग से कहा कि अध्ययन कर समाज की भलाई के कार्यों की सिफारिश करें। श्री चौहान ने ड्रेनेज चेम्बर की सफाई के दौरान सफाई कामगार की मृत्यु होने पर परिवार को चार लाख रूपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने महर्षि बाल्मिकी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। बाल्मिकी समाज द्वारा इस अवसर पर श्री चौहान का सम्मान किया गया। कार्यक्रम में सांसद श्री मनोहर ऊटवाल ने कहा कि बाल्मिकी समाज का गौरवशाली इतिहास रहा है। देश के 13 राज्यों में वर्तमान में सफाई कामगार आयोग गठित किये गये हैं। राज्य सफाई कामगार आयोग के अध्यक्ष श्री जटाशंकर करोसिया ने बाल्मिकी समाज की समस्यायें बतायीं। राज्य सफाई कामगार आयोग के सदस्य श्री सुनील बाल्मिकी ने भी कार्यक्रम में विचार व्यक्त किये। आरंभ में बाल्मिकी समाज महासंघ के अध्यक्ष श्री सुरेश चावरिया ने अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम में राज्य सफाई कामगार आयोग के उपाध्यक्ष श्री सूरज खरे, आयोग के सदस्य तथा समाज के प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaमहात्मा गांधी ने सत्य और अहिंसा के प्रयोगों से गढ़ा जीवन : मुख्यमंत्री श्री चौहान


2 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महात्मा गाँधी जन्म से नहीं, कर्म से महान बने थे। सारी जिन्दगी सत्य और अहिंसा का प्रयोग करके बापू ने जीवन गढ़ा था। उन्होंने कहा कि महात्मा गाँधी की 150वीं जयंती के अवसर पर जीवन को अर्थपूर्ण बनाने वाले कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे। आयोजन संबंधी व्यवस्थाओं के लिए राज्य स्तरीय समिति गठित होगी। श्री चौहान आज गाँधी भवन में अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस पर आयोजित सर्वधर्म प्रार्थना सभा को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि महात्मा गाँधी का दर्शन भारतीय दर्शन है। भारतीय संस्कृति के सत्य और अहिंसा के सिद्धांतों को बापू ने वास्तविकता के धरातल पर खड़ा किया। अहिंसा का व्यवहारिक रूप बताया। वो ऐसे सत्याग्रही थे जिन्होंने सदैव सत्य के मार्ग पर चलकर अहिंसा और सत्याग्रह के द्वारा अंग्रेजों को देश छोड़ने के लिए विवश किया। उन्होंने कहा कि हिंसा किसी भी समस्या का समाधान नहीं है। बड़े-बड़े युद्धों के विजेताओं का अंत कुंठा में हुआ है। दुनिया में आज हिंसा और आतंक का राज दिखाई पड़ रहा है। उसका समाधान बापू की सोच में है। आवश्यकता उसे आचरण में उतारने की है। उन्होंने कहा कि महापुरूषों को सभी मानते हैं। उनकी सीख को मानना चाहिए। गाँधी जी के जीवन के प्रसंगों का जिक्र करते हुये मुख्यमंत्री ने बताया कि बापू अपने आचरण से सीख देते थे। उन्होंने आग्रह किया कि उनकी सीखों को आचरण में उतारने का प्रयास करें। छोटे-छोटे प्रयासों से ही जीवन में बड़े बदलाव होते है। प्रतिदिन अनुचित गतिविधियों का विश्लेषण मात्र से शुरूआत करके जीवन को सार्थक बनाया जा सकता हैं। श्री चौहान ने कहा कि महात्मा गाँधी स्वच्छता के प्रति आग्रही थे। आग्रह से दृष्टिकोण बदलता है। जब मैला ढोने की परम्परा थी, उस समय बापू स्वयं शौचालय साफ करते थे। इस पर उनका पत्नी से विवाद भी हुआ था। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान की प्रेरणा महात्मा गाँधी हैं। प्रधानमंत्री के स्वच्छता अभियान का प्रभाव दिखने लगा है। समाज के नजरिये में स्वच्छता के प्रति परिवर्तन हुआ है। बेधड़क गदंगी फैलाने वाले भी, अब गदंगी फैलाने में संकोच करने लगे हैं। उन्होंने कहा कि मद्यनिषेध सप्ताह के दौरान नशे का त्याग करें। नशे का सेवन करने वालों को इसे त्यागने के लिए प्रेरित करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सफल जीवन से ज्यादा अर्थपूर्ण सार्थक जीवन है। बापू का जन्म-दिवस कर्मकाण्ड नहीं बने। सर्वधर्म प्रार्थना का उल्लेख करते हुये श्री चौहान ने कहा कि उसमें कही गई बातों पर अमल करें, तभी महात्मा गाँधी के संकल्पों को सफल बना सकते हैं। मुख्यमंत्री ने बच्चों को अनुपयोगी खिलौने और पढ़ ली गई पुस्तकों को जरूरतमंदों को देने के लिये प्रेरित किया। कार्यक्रम के प्रारम्भ में मुख्यमंत्री का सूत की माला से स्वागत किया गया। मुख्यमंत्री ने महात्मा गाँधी और लालबहादुर शास्त्री के चित्रों पर पुष्पांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री ने निबंध, चित्रकला, भजन, देश भक्ति गीत गायन और गाँधी जी के प्रेरक प्रसंग प्रतियोगिताओं के विजेता छात्र-छात्राओं प्रज्ञा शर्मा, राघव रक्षापाल, कमल किशोर, प्रीति सिहं, गिरिराज शर्मा, अमन गौर. नवीला खानम, राजदीप मर्धा, रिया जैन, साक्षी राठौर, शुबाहना, रोली प्रधान, रिया मालवी, रानू असवाल, कृति सैनी, वैभव पंत, अंजलि मडके और देशभक्ति गीतों के समूह गायन के विजेता स्कूलों रेड रोज लामाखेड़ा, नवनीत हायर सेकेण्डरी स्कूल बैरागढ़, विक्रमादित्य हायर सेकेण्डरी स्कूल भेल और जवाहर लाल नेहरू हायर सेकेण्डरी स्कूल भेल को पुरस्कृत किया। कार्यक्रम में सर्वधर्म प्रार्थना और भजन ‘वैष्णवजन को’ की प्रस्तुतियाँ हुई।


aaकिन्नर देश के सम्मानित नागरिक : मुख्यमंत्री श्री चौहान


2 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री आवास योजना में किन्नरों को आवास निर्माण के लिए केंद्र सरकार के अनुदान के अतिरिक्त राज्य सरकार की ओर से डेढ़ लाख रुपए का अनुदान दिया जाएगा। श्री चौहान आज यहाँ आजाद मार्केट में गणपति चौक मंगलवारा के निकट किन्नरों के लिए निर्मित शौचालय लोकार्पण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही किन्नर पंचायत का आयोजन किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि किन्नर देश के सम्मानित नागरिक हैं। प्रदेश सरकार उनका पूरा सम्मान करती है। सकारात्मक कार्यों में उनकी सेवाओं का उपयोग सरकार करेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि समाज में किन्नरों की सार्थक भूमिका सुनिश्चित की जाएगी। स्वच्छता का संदेश घर-घर पहुंचाने के लिए प्रदेश में किन्नरों का सहयोग लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि कुपोषण को दूर करने और बेटी बचाओ अभियान के संदेश को भी सर्वव्यापी बनाने में किन्नर समुदाय का सहयोग लिया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि किन्नर समुदाय को बदनाम करने वाले अवांछनीय तत्वों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही के लिए प्रशासन को निर्देशित किया जाएगा। उन्होंने नगर निगम की किन्नरों के प्रति संवेदनशीलता प्रदर्शन की प्रभावी पहल की सराहना की। श्री चौहान ने किन्नरों के प्रति समाज और सरकार के सम्मानीय दृष्टिकोण को प्रदर्शित करने के लिए किन्नर समुदाय के प्रतिनिधियों मंगलवार के उस्ताद सुरैया नायर और बुधवारा की पल्लवी नायर को पुष्पगुच्छ भेंट कर सम्मानित किया और उन्हें स्वच्छग्राही नियुक्ति कार्ड भी प्रदान किए। महापौर श्री आलोक शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार समाज के सभी वर्गों के प्रति संवेदनशील है। इसी भावना के अनुरूप नगर निगम द्वारा किन्नरों को क्वालिटी लाइफ उपलब्ध कराने के प्रयास किए हैं। उनके लिए सार्वजनिक शौचालय बनवाया गया है। नगर निगम भोपाल की पहल पर प्रधानमंत्री आवास योजना में केन्द्र सरकार ने किन्नरों को भी शामिल किया है। योजना के अंतर्गत अब उन्हें भी पक्के आवास प्रदान किए जाएंगे। नगर निगम भोपाल द्वारा बनवाया गया जनसुविधा केन्द्र देश एवं प्रदेश में इकलौता समावेशी जनसुविधा केन्द्र है। इसमें एक ही परिसर में पृथक-पृथक प्रवेश द्वार से महिला, पुरूष, दिव्यांग तथा थर्ड जेंडर हेतु मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराई गई है। कार्यक्रम में वंदे मातरम और वैष्णवजन भजन का गायन सुश्री सुहासिनी जोशी और साथियों ने किया। आभार प्रदर्शन पार्षद श्री संजीव गुप्ता ने किया। इस अवसर पर सांसद श्री आलोक संजर, विधायक श्री सुरेंद्र नाथ सिंह, भोपाल विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री ओम यादव, नगर निगम परिषद के अध्यक्ष डॉ. सुरजीत सिंह चौहान, परिषद के सदस्य श्री कृष्ण मोहन सोनी, दिनेश यादव सहित अन्य पार्षद, नगर निगम के अधिकारी, किन्नर समुदाय के सदस्य और बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित थे।


aaराज्य मंत्री श्री जोशी ने प्रतिभावान विद्यार्थियों को सम्मानित किया


2 October 2017

तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने आज मानस भवन में प्रतिभावान विद्यार्थियों एवं पत्रकारों को सम्मानित किया। उन्होंने सम्मानित विद्यार्थियों को सम्मान स्वरूप 1100-1100 रुपये देने की घोषणा की। सम्मान समारोह में श्री जोशी ने कहा कि मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना में प्रतिभावान विद्यार्थियों की मेडिकल, आईआईटी, लॉ सहित अन्य उच्च शिक्षा की पढ़ाई की फीस सरकार देगी। उन्होंने कहा कि 10वीं में अध्ययनरत विद्यार्थी 12वीं में माध्यमिक शिक्षा मण्डल की परीक्षा में 75 प्रतिशत और सीबीएसई की परीक्षा में 85 प्रतिशत से अधिक अंक लाये, जिससे उन्हें योजना का पूरा लाभ मिल सके। इस दौरान अन्य जन-प्रतिनिधि एवं पत्रकार उपस्थित थे।


aaमध्यप्रदेश में ईआरओ नेट का 4 अक्टूबर को शुभारंभ


2 October 2017

वोटर लिस्ट को पारदर्शी बनाने और देश के सभी ईआरओ (निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी) को आपस में जोड़ने के लिए भारत निर्वाचन आयोग द्वारा तैयार किए गए ईआरओ नेट का शुभारंभ 4 अक्टूबर को होगा। भारत निर्वाचन आयोग के चुनाव आयुक्त श्री ओ.पी. रावत मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय मध्यप्रदेश में अपरान्ह 3 बजे आयोजित कार्यक्रम में ईआरओ नेट का शुभारंभ करेंगे। कार्यक्रम में उप निर्वाचन आयुक्त श्री संदीप सक्सेना, संचालक आई.टी., चुनाव आयोग श्री वी.एन. शुक्ला और मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्रीमती सलीना सिंह उपस्थित रहेंगे। मध्यप्रदेश में लगभग 5 करोड़ 2 लाख मतदाताओं के लिए 65 हजार 155 मतदान केन्द्र हैं। ईआरओ नेट वेब आधारित एप है, जिसे आयोग ने मतदाताओं एवं मतदाता-सूची की पारदर्शिता के लिए बनवाया है। एप द्वारा देश के सभी ईआरओ आपस में जुड़ जाएंगे और कोई भी व्यक्ति वोटर लिस्ट में नाम जोड़ने के लिए अपना पंजीकरण घर बैठे ऑनलाइन कर सकेगा। एप के माध्यम से पूरे साल किसी भी समय ऑनलाइन आवेदन किया जा सकेगा। ऑनलाइन पंजीकरण के बाद मतदाता को एक यूनिक आई.डी. दी जाएगी, जिससे पंजीकरण पूर्ण होने तक आवेदक अपने आवेदन के स्टेटस से समय-समय पर अवगत हो सकेगा। संबंधित ईआरओ तथा बीएलओ को भी अलर्ट एसएमएस से प्राप्त होगा। ऑनलाइन आवेदन सीधे निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी, बीएलओ-सुपरवाइजर के पास पहुँचेगा। आवेदन प्राप्त होने पर ईआरओ द्वारा उसकी चेकलिस्ट जनरेट की जाएगी, जिसका सत्यापन बीएलओ-सुपरवाइजर द्वारा करवाया जाएगा। बीएलओ संबंधित निर्वाचक से सत्यापन के लिए सम्पर्क करेगा तथा उसके बाद चेकलिस्ट ईआरओ/एईआरओ/बीएलओ-सुपरवाइजर को दी जाएगी। इस प्रकार मतदाता-सूची में नाम जोड़ने की सारी प्रक्रिया सरल, पारदर्शी एवं कम समय में पूरी हो जाएगी। इस व्यवस्था के लागू होने के बाद मेन्युअली सभी तरह के फार्म भरे जाने की सुविधा भी पहले की तरह उपलब्ध रहेगी। आयोग द्वारा बनाए गए NVSP (नेशनल वोटर सर्विस पोर्टल) का लिंक आयोग एवं केन्द्र शासन की महत्वपूर्ण वेबसाइट तथा मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी की वेबसाइट पर भी उपलब्ध है। ECI.App को मोबाइल के गूगल प्ले-स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है।


aaबुजुर्गों की सेवा और सुरक्षा के समुचित प्रबंध होंगे : मुख्यमंत्री श्री चौहान


1 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश सरकार बुजुर्गों को मजबूर नहीं रहने देगी। उनकी सुरक्षा और सेवा के सभी जरूरी कार्य किये जाएंगे। इसके लिये नई योजना बनाई जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के शहरी क्षेत्रों, कस्बों और बड़े गाँवों में अकेले रहने वाले वरिष्ठ नागरिकों की जानकारी संकलित कर उसे सूचीबद्ध किया जाएगा ताकि उनकी सेवा और सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध हो सकें। बुजुर्गों की मदद के लिये हेल्प लाइन भी बनायी जाएगी, शासकीय कार्यक्रमों में कन्या पूजन के साथ ही क्षेत्र के सबसे बुजुर्ग का सम्मान भी किया जाएगा। मुख्यमंत्री निवास में शीघ्र ही वृद्धजन पंचायत भी होगी। श्री चौहान आज प्रशासन अकादमी में अंतर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस के अवसर पर आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने सामाजिक सुरक्षा पेंशन की 'सिंगल क्लिक से वितरण योजना' का शुभारंभ भी किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सिंगल क्लिक पेंशन वितरण योजना की सराहना करते हुए कहा कि इसे और बेहतर बनाने के प्रयास किये जाए। तकनीक का इस्तेमाल मानवीय संवेदनाओं के साथ हो। बुजुर्गों के खातों में तत्काल राशि पहुँचाने की व्यवस्था की पूरी सफलता तभी है, जब बैंक के खाते में पेंशन पहुँचने के दो से तीन दिनों के भीतर राशि वृद्धजन के हाथों में पहुँच जाए। उन्होंने निर्देश दिये कि पंचायत, पोस्ट ऑफिस और बैंक संयुक्त रूप से विचार कर, ऐसी व्यवस्था बनाएं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार सबसे पहले बुजुर्गों के साथ है। उम्र के साथ होने वाले बदलावों के साथ भी जीवन आनंद, प्रसन्नता और खुशी के साथ जिया जाए। समाज में बुजुर्गों का सम्मान बना रहे। इसके लिये समाज को आगे आना होगा। सरकार इसमें पूरा सहयोग करेगी। श्री चौहान ने कहा कि भारतीय संस्कृति बुजुर्गों के सम्मान पर आधारित है। आश्रम व्यवस्था के माध्यम से पूरा समाज लाभान्वित होता था। ओल्ड एज होम पाश्चात्य संस्कृति के प्रभाव का परिचायक है। उन्होंने कहा कि जमाना बदल रहा है। आज के माँ-बाप एक-डेढ़ वर्ष की आयु के शिशुओं को भी झूला घर में छोड़ रहे हैं। ऐसे बच्चे माँ-बाप को वृद्धाश्रम में छोड़ेंगे कि नहीं, इस पर समाज को चिंतन करना होगा। दादा-दादी परिवार के साथ रहने चाहिए, इसे समझना होगा। श्री चौहान ने अपने बचपन का स्मरण किया। अपनी दादी के विभिन्न प्रसंगों का उल्लेख करते हुए बताया कि संयुक्त परिवार में बच्चों के लालन-पालन में दादी की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती थी। परिवार के सभी महत्वपूर्ण निर्णय परिवार के बुजुर्गों द्वारा ही लिये जाते थे। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में सौ वर्ष की आयु प्राप्त बुजुर्ग श्रीमती पुनिया बाई और श्री कन्हैयालाल को वृद्धजन सम्मान के प्रतीक स्वरूप मंचासीन करवाया। कार्यक्रम में उपस्थित शतायु प्राप्त बुजुर्गों के पास पहुँचकर स्वयं उनका सम्मान किया। सिंगल क्लिक पेंशन योजना व्यवस्था में सहयोगी सामाजिक न्याय विभाग, नेशनल इन्फार्मेटिक्स सेंटर और सेंन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया के अधिकारियों, प्रबंधकों और कार्यपालकों को प्रमाण पत्र दिये। इसके पूर्व अंतर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस पर आयोजित चित्र प्रदर्शिनी का अवलोकन भी किया। वरिष्ठ फोटोग्राफर श्री शरद श्रीवास्तव की यह चौथी छायाचित्रों की फोटो प्रदर्शनी है। पंचायत एवं सामाजिक न्याय मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि वृद्ध माता-पिता की उपेक्षा अमानवीय कृत्य है। ऐसा करने वालों के विरुद्ध सरकार दंडात्मक कार्रवाई करेगी। उन्होंने अमेरिकावासी पुत्र की मुम्बई में रहने वाली माता की मृत्यु की जानकारी छह माह बाद मिलने की घटना का उल्लेख करते हुए कहा कि प्रदेश में ऐसा नहीं होने पाए, इस दिशा में ठोस प्रयास जरूरी है। समाज विशेषकर युवा पीढ़ी का दायित्व है कि वृद्ध माता-पिता आनंद भाव के साथ जीवन जियें। उन्होंने कहा कि सरकार ने पेंशन वितरण व्यवस्था को पारदर्शी, त्वरित और अधिक बेहतर बनाने के क्रम में सिंगल क्लिक पेंशन योजना लागू की है। ऐसी व्यवस्था करने में देश में मध्यप्रदेश अग्रणी राज्य है। श्री भार्गव ने इस व्यवस्था को और अधिक बेहतर बनाने के संबंध में सुझाव भी आमंत्रित किये। प्रमुख सचिव सामाजिक न्याय श्री अशोक शाह ने अंतर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस के संबंध में बताया कि सरकार द्वारा वृद्धजनों को अधिक से अधिक खुशी देने का प्रयास किया गया है। संगीतमय सुबह, सैर, स्वादिष्ट स्वल्पाहार और स्वास्थ्य परीक्षण के कार्यक्रम आयोजित किये गये है। सिंगल क्लिक योजना की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि देश में सबसे पहले मध्यप्रदेश ने दस प्रकार की पेंशन योजनाओं के पैंतीस लाख हितग्राहियों के बैंक खाते में एक बटन दबाते ही पेंशन की राशि जमा करने की व्यवस्था की है। उन्होंने बताया कि पहले पेंशन स्वीकृति प्रक्रिया में करीब छह हजार हस्ताक्षर होते थे। यह कार्य अब मात्र एक हस्ताक्षर से हो रहा है। कार्यक्रम के प्रारंभ में सामाजिक न्याय विभाग के कलापथक दल ने मध्यप्रदेश गान की प्रस्तुति दी। अतिथियों ने दीप जला कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस अवसर पर राज्य वरिष्ठ नागरिक कल्याण आयोग के अध्यक्ष श्री व्ही.जी. धर्माधिकारी, उपाध्यक्ष श्री विभीषण सिंह, सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया के महाप्रबंधक श्री अजय व्यास एवं बड़ी संख्या में वरिष्ठ नागरिक उपस्थित थे।


aaनिमाड़ की पठारी भूमि पर अब पानी भी और नहरें भी: मंत्री श्री आर्य


1 October 2017

नर्मदा घाटी विकास मंत्री श्री लालसिंह आर्य ने आज खरगोन जिले में अपरवेदा बांध पर दायीं तट पाईप नहर का शिलान्यास और डाउन स्ट्रीम हाईलेवल ब्रिज का लोकार्पण किया। उन्होंने इस मौके पर खरगोन जिले में 27-27 करोड़ के 5 कन्या भवन बनाने की भी घोषणा की । श्री आर्य ने कहा कि प्रदेश में इसी तरह के 80 कन्या भवन बनाने की योजना है। इसके अलावा, प्रदेश के सभी खेल परिसरों में 400 मीटर के उत्कृष्ट रनिंग ट्रेक भी बनाए जाएंगे। कार्यक्रम में भीकनगांव के 20 वन भूमिधारकों और झिरन्या विकासखंड के 42 वन भूमिधारकों को वन पट्टे प्रदान किए गए। ज्ञातव्य है कि वेदा नदी पर बने बांध की लंबाई 2414 मीटर है। इस परियोजना से 9917 हेक्टेयर भूमि सिंचित होगी। इस परियोजना से झिरन्या, भीकनगांव, गोगांवा और भगवानपुरा तहसील के 39 गांव लाभांवित होंगे। दायी तट मुख्य पाईप नहर की लंबाई 7.33 किमी एवं वितरण प्रणाली की लंबाई 11.92 किमी प्रस्तावित है। इस पाईप नहर 1829 हेक्टेयर भूमि सिंचित होगी। इस परियोजना से झिरन्या एवं भीकनगांव के 7 गाँव को सीधा लाभ प्राप्त होगा। कार्यक्रम में स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. विजय शाह, सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान, विधायक श्रीमती योगिता बोरकर, जनपद अध्यक्ष रेखाबाई धन्नालाल खतवासे, झिरन्या जनपद अध्यक्ष रूकमा दरबार, भीकनगांव नगर पालिका अध्यक्ष श्री दीपकसिंह ठाकुर उपस्थित थे।


aaमहात्मा गांधी ने विन्रमता की शिक्षा दी - राज्यपाल


1 October 2017

राज्यपाल श्री ओम प्रकाश कोहली ने गांधी जयंती के अवसर पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनका पुण्य स्मरण किया है। राज्यपाल श्री कोहली ने कहा है कि गांधी जी सादगी प्रिय थे, उन्होंनें विनम्रता की शिक्षा दी तथा विश्व को सत्य, अहिंसा, शांति, सदभाव और एकता का संदेश दिया। राज्यपाल कोहली ने पूर्व प्रधानमंत्री श्री लालबहादुर शास्त्री के जन्म दिवस पर उन्हें भी नमन करते हुए श्रद्धांजलि अर्पित की।


aaभ्रष्टाचार, आतंकवाद और गंदगी के अंत के लिये संकल्पित हों


30 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने रावण रूपी बुराईयों का त्याग करने के लिये नागरिकों का आव्हान किया है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार, आतंकवाद, गंदगी को खत्म करेंगे नारी का सम्मान करने और बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलाने के लिये संकल्पित कराया। श्री चौहान ने यह बात आज यहां स्थानीय छोला दशहरा मैदान में रावण दहन उत्सव में कही। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भारतीय संस्कृति में नारी का सम्मान सर्वोच्च है। नारी का अपमान भ्रष्टाचार, आतंकवाद और अस्वच्छता आदि रावण के गुण है। उन्होंने कहा कि रावण पुतले का दहन मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम आज कर देंगे। हमें अपने अंदर के क्रोध, मोह और अहंकार आदि रावण के गुणों का त्याग करना होगा। उन्होंने नागरिकों को विजयादशमी की शुभकामनायें दीं। श्रीराम के आदर्शों पर चलने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष भोपाल शहर देश के स्वच्छ नगरों में दूसरे स्थान पर रहा है। इस वर्ष उसे प्रथम स्थान मिले भोपाल के नागरिकों को संकल्पित होना होगा। कार्यक्रम के प्रारंभ में श्री चौहान ने भगवान श्रीराम की सेना का स्वागत किया। पूजा अर्चना की। सहकारिता राज्यमंत्री श्री विश्वास सारंग ने कहा कि विजयादशमी असत्य पर सत्य की जीत का पर्व है। समाज में जो भी बुराईयाँ हैं। उनका रावण के समान ही दहन करने का संकल्प लें। श्री हिन्दू उत्सव समिति के अध्यक्ष श्री कैलाश बेगवानी ने मंचासीन अतिथियों का स्वागत किया। स्वागत उदबोधन दिया। कार्यक्रम को श्री कैलाश मिश्रा ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर महापौर श्री आलोक शर्मा, हिन्दू उत्सव समिति के पदाधिकारीगण सदस्य और हजारों की संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे।


aaबच्चों के लिये अच्छी शिक्षा और अच्छे शाला भवन सरकार की प्राथमिकता


30 September 2017

जनसम्पर्क, जल-संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज दतिया जिले के ग्राम छता में एक करोड़ रुपए की लागत से स्वीकृत हाई स्कूल भवन का शिलान्यास किया। डॉ. मिश्र ने इस अवसर पर कहा कि बच्चों को अच्छी शिक्षा और अच्छे शाला भवन उपलब्ध कराना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने अभिभावकों से कहा कि बच्चों को नियमित रूप से शाला में भेजें। जनसम्पर्क मंत्री ने ग्रामीणों को दशहरा पर्व की शुभकामनाएँ दी। मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा कि किसानों को उनकी उपज का वाजिब मूल्य दिलाने के लिए मुख्यमंत्री ने भावान्तर भुगतान योजना शुरू की है। इस योजना में किसानों को केवल अपनी उपज का ऑनलाईन पंजीयन करवाना है। पंजीयन के लिए 11 अक्टूबर तक की तारीख तय की गई है। उन्होंने कहा कि बाजार मूल्य तथा शासन द्वारा घोषित समर्थन मूल्य में जो भी अंतर रहेगा, उस अंतर की राशि राज्य सरकार सीधे किसान के खाते में जमा करवाएगी।
हितग्राहियों को 25-25 हजार रुपए सहायता राशि-
जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने इस अवसर पर दतिया जिले में मुख्यमंत्री श्रम कल्याण योजना में सात मजदूरों को बेटियों की शादी के लिए 25-25 हजार रुपए की सहायता राशि प्रदान की। आर्थिक सहायता प्राप्त करने वालों में सर्वश्री नारायण अहिरवार, शिवचरण अहिरवार, मायाराम सेन, बुद्ध सिंह चौहान, शिवचरण रिछारिया, सियाश्रण जाटव, कैलाश मौर्य शामिल है।
ग्राम जिगना-सतारी तक बनेगी सड़क -
डाँ. नरोत्तम मिश्र ने आज दतिया जिले के ग्राम सतारी पहुंचकर ग्रामीणों से भेंट की। सतारी पहुंचने पर जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती रजनी प्रजापति एवं श्री पुष्पेन्द्र रावत ने डॉ. मिश्र का स्वागत किया। जनसम्पर्क मंत्री ने ग्रामीणों की माँग पर ग्राम जिगना-सतारी सड़क निर्माण कराने की घोषणा की। जनसम्पर्क मंत्री आज अल्प प्रवास पर बड़ौनी पहुंचे। उन्होंने बस्ती में स्थापित दुर्गा पंढाल में पूजा-अर्चना की। डॉ. मिश्र ने दतिया में माँ पीताम्बरा पीठ के सामने गुरूद्वारे के पास एक श्रृद्धालु समाजसेवी द्वारा निर्मित प्याऊ का शुभारंभ भी किया।


aaउद्योग मंत्री श्री शुक्ल की अध्यक्षता में विंध्य विकास प्राधिकरण का शपथ ग्रहण समारोह सम्पन्न


30 September 2017

वाणिज्य, उद्योग, रोजगार तथा खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल की अध्यक्षता में रीवा में विंध्य विकास प्राधिकरण का शपथ ग्रहण तथा सम्मान समारोह सम्पन्न हुआ। श्री शुक्ल ने इस अवसर पर कहा कि विकास योजनाओं में अधिक से अधिक लोगों की भागीदारी सुनिश्चित करना है। इसलिये प्राधिकरण के पदाधिकारी क्षेत्र की प्राचीन संस्कृति, कला एवं परम्पराओं को संरक्षित तथा संवर्धित करने की दिशा में कार्य करें। तभी हम आने वाली पीढ़ी को विंध्य की धरोहर सजे-सँवरे रूप में सौंप सकेंगे। उद्योग मंत्री ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा विंध्य क्षेत्र में पिछड़ेपन को दूर करते हुए रोजगार के संसाधन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री सुभाष सिंह ने उपाध्यक्ष द्वय श्रीमती विमलेश मिश्रा एवं श्री रामदास पुरी सहित सदस्यों को शपथ दिलाई। इस अवसर पर विधायक श्री गिरीश गौतम और श्री दिव्यराज सिंह, महापौर श्रीमती ममता गुप्ता सहित अनेक जन-प्रतिनिधि मौजूद थे।
राजकपूर ऑडिटोरियम का निरीक्षण -
उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने आज रीवा में निर्माणाधीन राजकपूर ऑडिटोरियम का निरीक्षण किया। श्री शुक्ल ने निर्माण कार्य समय-सीमा में पूर्ण करने के निर्देश दिए। उल्लेखनीय है कि रीवा में 17 करोड़ 38 लाख रुपये लागत से राजकपूर ऑडिटोरियम का निर्माण कराया जा रहा है।
सड़क दुर्घटना में दिवंगत के घर पहुँचे उद्योग मंत्री -
उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने आज रीवा में सड़क दुर्घटना में मृत श्री जितेन्द्र सिंह के घर पहुँचकर शोक-संवेदना व्यक्त की। श्री शुक्ल ने दुर्घटना में घायल बच्ची कु. संगीता सिंह का हाल भी जाना एवं उसके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की। उन्होंने सहायता के तौर पर 87 हजार रुपये का चैक पीड़ित परिवार के परिजनों को सौंपा।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने दी विजयादशमी की बधाईयाँ


29 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी नागरिक बंधुओं और श्रद्धालुओं को विजयादशमी पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ दी हैं। उन्होंने कहा कि विजयादशमी समृद्धशाली भारतीय संस्कृति का प्रतीक पर्व है। जनमानस के आराध्य भगवान श्रीराम ने अहंकार के प्रतीक रावण का वध कर लंका विजय की थी। यह अपने अंदर की बुराईयों का दहन करने का अवसर है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विजयादशमी के पावन अवसर पर मध्यप्रदेश को गंदगी मुक्त, भ्रष्टाचार मुक्त, आतंकवाद मुक्त और गरीबी मुक्त प्रदेश बनाने का आव्हान किया है। श्री चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश का कायाकल्प शक्तिशाली, समृद्धशाली और पूर्ण रूप से विकसित प्रदेश के रूप में हो रहा है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश विकास के मार्ग पर निरंतर आगे बढ़ता रहे, नागरिकों का जीवन समृद्धि और खुशहाली से भरपूर रहे, यही ईश्वर से प्रार्थना है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सभी को दीपोत्सव की भी अग्रिम बधाईयाँ दी।


aaनवमीं पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कराया कन्या भोज


29 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज नवमी के पावन अवसर पर अपने निवास पर कन्या भोज का आयोजन किया। श्री चौहान एवं उनकी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान ने परंपरागत रूप से कन्याओं के चरण धोये और आरती उतारी। मंत्रोचारण के साथ उन्होंने कन्याओं को भोजन कराया। श्री चौहान ने कहा कि बेटियाँ प्रदेश और भारत का भविष्य हैं। बेटियों की पूजा हर दिन होना चाहिए। यही भारतीय संस्कृति की मूल्यवान परम्परा है। उन्होंने नागरिकों का आव्हान किया कि वे बेटियों को पढ़ाने, आगे बढ़ाने का संकल्प लें।


aaजनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दी विजयादशमी की बधाई


29 September 2017

जनसम्पर्क,जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने विजयादशमी पर्व पर नागरिकों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं। डॉ मिश्र ने संदेश में कहा है कि दशहरा पर्व असत्य पर सत्य की विजय का प्रतीक है। जनसम्पर्क मंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में दशहरा सहित सभी त्यौहार शांति, एकता एवं सौहार्द से मनाने की परंपरा है। उन्होने इस परम्परा को निरंतर बनाये रखने का आव्हान किया हैं। डॉ मिश्र ने इस अवसर पर प्रदेशवासियों की सुख, समृद्धि की कामना की है।


aaजनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने किया खाद बिक्री केन्द्र का शुभारंभ


28 September 2017

जनसंपर्क, जल-संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया जिले के गोराघाट में आज खाद बिक्री केन्द्र का शुभारंभ किया। मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा कि खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिए सरकार हर कदम उठा रही है। किसानों को अपने गाँव के नजदीक अच्छी कंपनी, उचित दामों पर रासायनिक खाद और कीटनाशक दवायें उपलब्ध हों इसके लिए इस केन्द्र का शुभारंभ किया गया है। उन्होंने कहा कि खाद बिक्री केन्द्र से किसान सरकारी दरों पर सभी प्रकार की खाद तथा दवायें ले सकते हैं। उनके श्रम और समय की भी बचत होगी। इफको कंपनी के क्षेत्रीय प्रबंधक ने बताया कि कंपनी द्वारा निर्धारित दरों पर रासायनिक उर्वरक खाद बिक्री केन्द्र के माध्यम से उपलब्ध होगा। इस अवसर पर जन-प्रतिनिधि तथा किसान उपस्थित थे।


aaमुख्य सचिव से मिले मिड कैरियर ट्रेंनिग पर आये अपर कलेक्टर


28 September 2017

मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह से मिड कैरियर ट्रेंनिग पर प्रशासन अकादमी आये 27 अपर कलेक्टरों ने भेंट की। वर्ष 2001 से 2006 बैंच के अपर कलेक्टर्स से भेंट के दौरान मुख्य सचिव श्री सिंह ने सुशासन, जनता के साथ संवेदनशील व्यवहार, विकास, प्रशासन,कानून व्यवस्था आदि विषयों पर चर्चा की। आर.जी.पी.वी. नरोन्हा प्रशासन अकादमी द्वारा आयोजित 5 सप्ताह के प्रशिक्षण सत्र में आये अपर कलेक्टर्स ने प्रशासन अकादमी सहित अहमदाबाद, ओ.पी. जिंदल विश्वविद्यालय सोनीपत, साउथ कोरिया के कोरिया डेव्हलपमेंट इंस्टीटयूट के प्रशिक्षण सत्र में भाग लिया


aaदतिया प्रदेश का महत्वपूर्ण खेल केन्द्र होगा : जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र


28 September 2017

प्रदेश में खेल सुविधाओं के निरंतर विकास के तहत आज दतिया में जल क्रीड़ा केन्द्र (वॉटर स्पोर्टस सेन्टर) का लोकार्पण किया गया। खेल मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने दतिया के लाला के ताल पर इस केन्द्र का शुभारंभ किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने की। खेल मंत्री श्रीमती सिंधिया ने कहा कि मध्यप्रदेश के खिलाड़ी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिभा का प्रदर्शन कर रहे हैं। महिला हॉकी में मध्यप्रदेश की खिलाड़ी लगातार अच्छा खेल रही हैं। इसी तरह वॉटर स्पोर्टस में होशंगाबाद और राजगढ़ की खिलाड़ी राष्ट्रीय-अंर्तराष्ट्रीय स्पर्धाओं में हिस्सा ले रही हैं। जनसंपर्क, जल-संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कहा कि दतिया का वॉटर स्पोर्टस सेन्टर इस खेल से जुड़े बच्चों की प्रतिभा को निखारने का कार्य करेगा। खेल संचालक श्री उपेन्द्र जैन ने खेल क्षेत्र में अर्जित प्रदेश की उपलब्धियों की जानकारी दी। दतिया में वॉटर स्पोर्टस सेन्टर के पूर्व ही उच्च स्तरीय लान टेनिस और बैंडमिंटन कोर्ट भी बनाए गए हैं। वॉटर स्पोर्टस सेन्टर में पर्याप्त नौकाओं की व्यवस्था की गई है। इसके साथ ही कोच और गार्ड का प्रबंध भी किया गया है। करीब पाँच करोड़ रूपये की राशि से दतिया में नई खेल सुविधाएं विकसित की जाएंगी। दतिया स्टेडियम में मल्टी जिम शुरू करने का सुझाव भी प्राप्त हुआ है। खेल मंत्री श्रीमती सिंधिया और जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज दतिया स्टेडिया का निरीक्षण कर खेल सुविधाओं का जायजा भी लिया।


aaदेवास जिले में एक भी अविवादित नामांतरण-बंटवारा का आवेदन लम्बित नहीं


28 September 2017

देवास जिले में आज की स्थिति में किसी भी किसान का एक भी अविवादित नामांतरण और बंटवारे का आवेदन लंबित नहीं है। जिले की हर ग्राम पंचायत में कृषक कल्याण शिविर लगाकर पात्र किसानों से आवेदन लिये गए और उनका शत-प्रतिशत निराकरण किया गया है। कलेक्टर श्री आशीष सिंह ने अब एलान किया है कि यदि जिले में किसी भी किसान का अविवादित नामांतरण और बंटवारे का आवेदन एक माह से लंबित है, तो सूचना देने वाले को 500 रुपए पुरस्कार दिया जाएगा। ज़िले में पिछले दो महीने से अविवादित राजस्व प्रकरणों का निराकरण शिविर लगाकर पंचायतों के माध्यम से किया जा रहा है। इस अवधि में 6000 से अधिक अविवादित नामांतरण/बंटवारे के प्रकरणों के निराकरण पंचायतों ने किए हैं। कलेक्टर ने बताया है कि यदि किसान ने नामांतरण/बंटवारे के लिए आवेदन 20 अगस्त से पहले तहसील या पंचायत स्तर पर कर दिया हो और इस आवेदन के आधार पर आपत्ति के लिए प्रकाशन में 28 सितम्बर तक कोई आपत्ति न प्राप्त हुई हो, तभी उसे अविवादित नामांतरण/बंटवारा की श्रेणी में रखा जाएगा। इश्तहार प्रकाशन के बाद कोई आपत्ति प्राप्त हो चुकी है, तो नामांतरण/बंटवारे का प्रकरण विवादित माना जायेगा । इसके अलावा यदि नामांतरण/बंटवारे का आवेदन 20 अगस्त से पहले दिया गया हो और अभी भी लंबित हो, तो कृषकगण दूरभाष क्रमांक 07272-250666 पर इसकी सूचना देकर 500 रुपये का पुरस्कार प्राप्त कर सकते हैं।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने शारदीय नवरात्र के अवसर पर किये झाँकियों के दर्शन


28 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह के साथ आज नगर भ्रमण किया। उन्होंने शारदीय नवरात्र के अवसर पर विभिन्न स्थानों पर स्थापित झाँकियों के दर्शन किये। माँ दुर्गा का पारंपरिक विधि-विधान से पूजन किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने न्यू मार्केट, कालीबाड़ी टी.टी.नगर और भेल, आजाद दुर्गा उत्सव समिति माता मंदिर, जय माँ दुर्गा उत्सव समिति बिट्टन मार्केट व्यापारी संघ, दुर्गा उत्सव समिति विजय मार्केट बरखेड़ा और जय माँ कालका मंच गाँधी चौक पिपलानी के विभिन्न स्वरूपों की झाँकियों के दर्शन किये। न्यू मार्केट की झांकी में विशेष आकर्षण गौ-शाला थी।


चहुंमुखी विकास का रोडमैप 15 अक्टूबर तक तैयार करें समितियाँ – मुख्यमंत्री श्री चौहान
Our Correspondent :27 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश के स्थापना दिवस पर प्रदेश के चहुँमुखी विकास का रोडमैप नागरिकों को सौंपा जाएगा। उन्होंने इसके लिये मंत्रीगणों और वरिष्ठ अधिकारियों की 14 अलग-अलग समितियाँ भी गठित की हैं। इन समितियों को 15 अक्टूबर तक रोडमैप तैयार करने के लिये कहा गया है।
प्रत्येक क्षेत्र के लिये अलग-अलग समितियाँ गठित की गई हैं इनमें -
गदंगी मुक्त मध्यप्रदेश बनाने के लिये गठित समिति में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह, पर्यटन एवं संस्कृति राज्यमंत्री श्री सुरेन्द्र पटवा तथा अपर मुख्य सचिव ग्रामीण विकास श्री आर.एस. जुलानिया, प्रमुख सचिव नगरीय विकास श्री मलय श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव जल संसाधन श्री पंकज अग्रवाल एवं मुख्यमंत्री के सचिव श्री विवेक अग्रवाल शामिल हैं। आतंकवाद मुक्त मध्यप्रदेश समिति में गृह मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह, लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, चिकित्सा शिक्षा राज्य मंत्री श्री शरद जैन तथा मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला, अपर मुख्य सचिव गृह श्री के.के. सिंह, अपर पुलिस महानिदेशक श्री आदर्श कटियार शामिल हैं। भ्रष्टाचार मुक्त मध्यप्रदेश समिति में राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, सामान्य प्रशासन एवं आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री लाल सिंह आर्य तथा मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, पुलिस महानिदेशक आर्थिक अपराध श्री विजय यादव, प्रमुख सचिव वाणिज्य कर श्री मनोज श्रीवास्तव, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल, सचिव सामान्य प्रशासन श्रीमती रश्मि अरूण शमी शामिल हैं।
गरीबी मुक्त मध्यप्रदेश समिति –
वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव, नगरीय विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह, सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य तथा प्रमुख सचिव उद्योग श्री मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव कुटीर एवं ग्रामोद्योग श्रीमती वीरा राणा, प्रमुख सचिव सूक्ष्म एवं लघु उद्योग श्री बी.एल. कांताराव, मुख्यमंत्री के अपर सचिव श्री बी. चंद्रशेखर, आजीविका मिशन के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एल.एम. बेलवाल एवं श्री एस.एस. राजपूत शामिल है।
स्वास्थ्य एवं कुपोषण समिति –
लोक स्वास्थ्य मंत्री श्री रूस्तम सिंह, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया तथा प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य श्रीमती गौरी सिंह, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा श्री शिवशेखर शुक्ला, आयुक्त लोक स्वास्थ्य श्रीमती पल्लवी जैन गोविल, आयुक्त महिला एवं बाल विकास श्रीमती जयश्री कियावत, मुख्यमंत्री के सचिव श्री हरिरंजन राव शामिल हैं।
गुणवत्तापूर्ण शिक्षा –
उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया, स्कूल शिक्षा मंत्री कुँवर विजय शाह, शिक्षा राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी तथा अध्यक्ष माध्यमिक शिक्षा मण्डल श्री एस.आर. मोहंती, प्रमुख सचिव शिक्षा श्री दीप्ति गौड़ मुखर्जी, प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा श्री संजय बंदोपाध्याय, मुख्यमंत्री के अपर सचिव श्री बी.चंद्रशेखर शामिल हैं।
ईज ऑफ डूइंग बिजनेस –
जल संसाधन एवं जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल, सूक्ष्म एवं लघु मध्यम उद्योग राज्य मंत्री श्री संजय पाठक, सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग तथा अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए.पी. श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव उद्योग श्री मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव लोक निर्माण श्री प्रमोद अग्रवाल, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री एस.के. मिश्रा, ट्रायफेक के प्रबंध संचालक श्री डी.पी. आहूजा, मुख्यमंत्री के उप सचिव श्री नंदकुमारम्।
अ.जा., अ.ज.जा. एवं घुमक्कड़ जाति कल्याण –
श्रम मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य, आदिम जाति कल्याण राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य, पिछड़ा वर्ग कल्याण राज्य मंत्री श्रीमती ललिता यादव तथा अपर मुख्य सचिव वन श्री दीपक खांडेकर, प्रमुख सचिव महिला एवं विकास श्री जे.एन. कंसोटिया, आयुक्त आदिवासी विकास श्रीमती दीपाली रस्तोगी, मुख्यमंत्री के उप सचिव श्री नदंकुमारम्।
हर घर में बिजली –
ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन, उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल, सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग तथा अपर मुख्य सचिव ऊर्जा श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव नवकरणीय ऊर्जा श्री मनु श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव श्री आई.सी.पी. केसरी, प्रबंध संचालक एम.पी. पॉवर मैनेजमेंट कम्पनी लिमिटेड श्री संजय शुक्ला, मुख्यमंत्री के सचिव श्री विवेक अग्रवाल।
हर घर में शुद्ध पेयजल –
पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव, नगरीय विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री सुश्री कुसुम महदेले तथा प्रमुख सचिव वाणिज्य कर श्री मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री मनोज गोविल, प्रबंध संचालक एम.पी. पॉवर मैनेजमेंट कम्पनी लिमिटेड श्री संजय शुक्ला, मुख्यमंत्री के सचिव श्री विवेक अग्रवाल।
कृषि आय दोगुना –
किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन, उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री श्री सूर्यप्रकाश मीना, सहकारिता राज्यमंत्री श्री विश्वास सांरग तथा कृषि उत्पादन आयुक्त श्री पी.सी. मीना, प्रमुख सचिव सहकारिता श्री अजीत केसरी, प्रमुख सचिव कृषि डॉ. राजेश राजौरा, प्रमुख सचिव उद्यानिकी श्री अशोक वर्णवाल।
महिला सशक्तिकरण एवं स्वसहायता समूहों का सुदृढ़ीकरण –
महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्री यशोधरा राजे सिंधिया, जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र तथा प्रमुख सचिव महिला एवं बाल विकास श्री जे.एन. कंसोटिया, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्रीमती गौरी सिंह, महापंजीयक श्रीमती कल्पना श्रीवास्तव एवं आजीविका मिशन के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एल.एम. बेलवाल। गौवंश संरक्षण एवं फसल सुरक्षा समिति में वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, जल संसाधन एवं जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, नगरीय विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह, श्रम मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य, गौसंवर्धन बोर्ड के अध्यक्ष श्री अखिलेशावरानन्द, मध्यप्रदेश खनिज के अध्यक्ष श्री शिव चौबे, जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डे तथा अपर मुख्य सचिव वन श्री दीपक खांडेकर, प्रमुख सचिव सहकारिता श्री अजीत केसरी, मुख्यमंत्री के सचिव श्री विवेक अग्रवाल। सामान्य निर्धन वर्ग कल्याण समिति में राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, जल संसाधन एवं जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह तथा अपर मुख्य सचिव नर्मदा घाटी श्री रजनीश वैश्य, अपर मुख्य सचिव जेल श्री विनोद सेमवाल, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल, प्रमुख सचिव एस.के. मिश्रा, प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरूण पाण्डे को सदस्य के रूप में शामिल किया गया है।


मध्यप्रदेश पर्यटन को हॉल ऑफ फेम का राष्ट्रीय अवार्ड
Our Correspondent :27 September 2017

मध्यप्रदेश देश का ऐसा पहला राज्य बन गया है जिसे लगातार 3 साल से बेस्ट टूरिज्म स्टेट का राष्ट्रीय अवार्ड हासिल हुआ है। इस उपलक्ष्य में मध्यप्रदेश पर्यटन को आज नई दिल्ली में हॉल ऑफ फेम अवार्ड (Hall of Fame Award) से नवाज़ा गया। विज्ञान भवन में आयोजित गरिमापूर्ण समारोह में राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने मध्यप्रदेश के पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा, राज्य पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष श्री तपन भौमिक एवं पर्यटन सचिव श्री हरि रंजन राव को यह अवार्ड प्रदान किया। अवार्ड के रूप में ट्राफी और प्रशस्ति-पत्र दिया गया। केन्द्रीय पर्यटन एवं सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)श्री के.जे.अलफोंस भी मौजूद थे। विश्व पर्यटन दिवस के मौके पर आज मध्यप्रदेश को एक बार फिर एक साथ 10 राष्ट्रीय अवार्ड प्राप्त हुए। नेशनल अवार्ड वितरण समारोह में मध्यप्रदेश में आयोजित ‘जल-महोत्सव हनुवंतिया को मोस्ट इनोवेटिव टूरिस्ट प्रोडक्ट’ और मध्यप्रदेश टूरिज्म को बेस्ट स्टेट फॉर एडवेंचर टूरिज्म का राष्ट्रीय अवार्ड प्राप्त हुआ। ‘चंदेरी को बेस्ट हेरिटेज सिटी’, खरगौन को सिविक मैनेजमेंट ऑफ टूरिस्ट डेस्टिनेशन ऑफ इंडिया का, उज्जैन रेलवे स्टेशन को टूरिस्ट फ्रेंडली रेलवे स्टेशन और इंग्लिश कॉफी टेबल बुक को एक्सिलेंस इन पब्लिशिंग का राष्ट्रीय अवार्ड प्राप्त हुआ। इसी प्रकार बेस्ट फिल्म प्रमोशन फ्रेंडली स्टेट/यूनियन टेराटोरी में फिल्म प्रमोशन पॉलिसी का राष्ट्रीय अवार्ड भी मध्यप्रदेश पर्यटन को प्राप्त हुआ। सिंहस्थ 2016 में मध्यप्रदेश पर्यटन द्वारा प्रकाशित हिन्दी ब्रोशर को एक्सिलेंस इन पब्लिशिंग इन हिन्दी ब्रोशर का राष्ट्रीय अवार्ड प्राप्त हुआ। बेस्ट वाइल्ड लाइफ गाइड का राष्ट्रीय पुरस्कार पचमढ़ी के श्री सईब खान को प्राप्त हुआ। मध्यप्रदेश पर्यटन के लिए आज का दिन बड़ा महत्वपूर्ण रहा जब नई-दिल्ली में राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार के गरिमापूर्ण समारोह में पर्यटन के लिये प्रतिष्ठित 10 अवार्ड एक साथ मध्यप्रदेश को मिले। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश पर्यटन को लगातार तीसरे साल पर्यटन के क्षेत्र में राष्ट्रीय अवार्ड प्राप्त हुए हैं। पिछले वर्ष मध्यप्रदेश पर्यटन को 5 और इसके पूर्व वर्ष में 6 राष्ट्रीय अवार्ड सहित अन्य अवार्ड प्राप्त हुए थे। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश में अनेक मनोरम पर्यटन स्थल, तीन विश्व धरोहर, दो ज्योतिर्लिंग, ऐतिहासिक विरासत, धार्मिक स्थल, ईको टूरिज्म, राष्ट्रीय उद्यान आदि पर्यटन स्थल किसी भी पर्यटक को मंत्रमुग्ध करने की क्षमता रखते हैं। यह पर्यटन स्थल सैलानियों को आल्हादित कर देते हैं। इस मौके पर म.प्र. राज्य पर्यटन निगम की एम.डी. श्रीमती छवि भारद्वाज, अपर प्रबंध संचालक डॉ. श्रीकांत पाण्डेय, कार्यपालिक निदेशक श्री ओ.वी.चौधरी सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।


राज्य-स्तरीय पर्यटन क्विज में भोपाल विजेता और सतना के छात्रों का ग्रुप उप विजेता
Our Correspondent :27 September 2017

मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम एवं भोपाल टूरिज्म प्रमोशन काउंसिल के संयुक्त तत्वावधान में 'विश्व पर्यटन दिवस'' के मौके पर राज्य-स्तरीय पर्यटन क्विज प्रतियोगिता में डीपीएस भोपाल के छात्रों का ग्रुप विजेता एवं सतना जिले के विद्यालयीन छात्रों का समूह उप विजेता रहे। विजेता, उप विजेता और अन्य प्रतिभागियों को सांसद श्री आलोक संजर एवं भोपाल कलेक्टर श्री सुदाम खाडे ने मेडल-प्रमाण-पत्र वितरित किये। क्विज प्रतियोगिता में इन विजेता, उप विजेता ग्रुप के अलावा सीधी, दमोह, बैतूल एवं अशोकनगर जिले के विद्यालयीन छात्रों के ग्रुप ने हिस्सा लिया। कौन बनेगा करोड़पति की तर्ज पर हुई मल्टी मीडिया क्विज में प्रदेश के पुरातत्व महत्व के प्राचीन धरोहर, पर्यटन स्थल और धार्मिक पर्यटन स्थलों पर केन्द्रित 120 प्रश्नों को चित्रों के माध्यम से स्थान और उनकी विशेषताओं को पूछा गया। क्विज मास्टर श्री रविकांत ठाकुर की प्रस्तुति को सभी ने सराहा। इसके पूर्व राज्य-स्तरीय पर्यटन क्विज में प्रथम चरण में लिखित क्विज प्रतियोगिता हुई। इसमें प्रदेश के 51 जिलों से विद्यालयीन छात्र-छात्राएँ प्रतिभागी के रूप में शामिल हुए। लिखित क्विज प्रतियोगिता में शामिल हुए छात्र-छात्राओं ने भोपाल को स्वच्छता में नम्बर-1 बनाने की शपथ ली। विभिन्न जिलों से आये छात्र-छात्राओं ने यह भी संकल्प लिया कि वे अपने जिले, खासतौर पर अपने नगर को स्वच्छ बनाने में सक्रिय भागीदारी निभायेंगे।


aaनागरिकों के सामने प्रस्तुत होगा प्रदेश के विकास का रोडमैप : मुख्यमंत्री श्री चौहान


27 September 2017

इसी वर्ष मध्यप्रदेश का 61वाँ स्थापना दिवस पूरी गरिमा और भव्यता के साथ मनाया जाएगा। नागरिकों के सामने मध्यप्रदेश के भविष्य औरविकास का रोडमैप प्रस्तुत किया जाएगा। सभी जिलों में मध्यप्रदेश की विकास यात्रा पर आधारित कार्यक्रम होंगे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ मंत्रालय में स्थापना दिवस समारोह की तैयारियों की समीक्षा करते हुये सभी मंत्रियों एवं विभागाध्यक्षों को अपने-अपने विभागों की गतिविधियाँ निर्धारित करने और विकास का रोडमैप तैयार करने के निर्देश दिये। श्री चौहान ने 61वें स्थापना दिवस पर मध्यप्रदेश को गदंगी मुक्त बनाने, भ्रष्टाचार मुक्त बनाने, आतंकवाद और गरीबी मुक्त बनाने के संकल्पों के आधार पर प्राथमिकताएँ निर्धारित करने के निर्देश दिये। उन्होंने महिला सशक्तिकरण, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, सरल व्यापार, पेयजल, हर घर में बिजली, किसानों की आय दोगनी करने, गौवंश सुरक्षा, कैशलेस ट्रांजेक्शन जैसे विषयों पर भी ध्यान केन्द्रित करने के निर्देश दिये। उन्होंने प्रत्यक्ष क्षेत्र के लिये मंत्रिमंडलीय एवं वरिष्ठ अधिकारियों के दल बनाने को कहा। ये दल क्षेत्र विशेष के विकास का नक्शा और रणनीति तैयार करेंगे। श्री चौहान ने 15 अक्टूबर तक सम्पूर्ण रोडमैप तैयार करने के निर्देश देते हुये कहा कि देश के अन्य राज्यों में जो उत्कृष्ट प्रयास और प्रक्रियाएँ अपनाई गई हैं, उन्हें भी इसमें शामिल करें। इस सम्पूर्ण रोडमैप को 17 अक्टूबर की केबिनेट में प्रस्तुत किया जाएगा और अंतिम रूप देकर एक नवम्बर स्थापना दिवस पर जनता को समर्पित किया जाएगा। श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश का स्थापना दिवस एक दिन की गतिविधि अथवा औपचारिकता न रहकर जनआंदोलन बनना चाहिये। हर नागरिक इससे जुड़ना चाहिये। एक सप्ताह तक स्थापना समारोह का उत्सव होगा। इसके लिये वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस, राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता एवं स्कूल शिक्षा मंत्री कुँवर विजय शाह के नेतृत्व में एक दल बनाया जाएगा। इसके सहयोग के लिये अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा श्री बी.आर. नायडू, प्रमुख सचिव संस्कृति श्री मनोज श्रीवास्तव एवं प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती दीप्ति गौड़ मुखर्जी की संयुक्त टीम बनाई गई है।
राजमाता सिंधिया के जन्म-दिवस पर लाड़ली लक्ष्मी सम्मेलन
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आगामी 12 अक्टूबर को स्वर्गीय राजमाता सिंधिया के जन्म-दिवस के अवसर पर पूरे प्रदेश में लाड़ली लक्ष्मी सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। श्री चौहान ने सभी मंत्रियों और वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिये कि जिलों में किसानों की आय दोगुनी करने के लिये आयोजित हो रहे सम्मेलनों में भाग लें। यह सम्मेलन पिछले 15 सितम्बर से चल रहे हैं और 15 अक्टूबर को तक चलेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि 07 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक इन सम्मेलनों में कम से कम एक बार अवश्य शामिल हों।
युवाओं के लिये स्वरोजगार मेले
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि 11 नवम्बर से 30 नवम्बर तक पूरे प्रदेश में युवाओं के लिये स्वरोजगार एवं कौशल मेलों का आयोजन किया जाएगा। एक दिसम्बर से 15 फरवरी 2018 तक पूरे प्रदेश में महिलाओं के स्व-सहायता समूहों के सम्मेलन आयोजित किये जाएंगे। उन्होंने कहा कि 16 दिसम्बर से 31 दिसम्बर तक कैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने के लिये सम्मेलन होंगे। इसी प्रकार केन्द्र सरकार की बीमा योजनाओं से जुड़ने के लिये विशेष अभियान चलाया जाएगा। श्री चौहान ने बताया कि 01 नवम्बर से 30 नवम्बर तक सभी जिलों में विकास यात्राएं निकाली जाएंगी। उन्होंने सभी मंत्रियों एवं जनप्रतिनिधियों से आग्रह किया कि विकास यात्राओं में शामिल हों। विकास यात्राओं का दूसरा चरण 01 जून से 30 जून 2018 तक आयोजित किया जाएगा।
प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना में राजगढ़ जिला देश में प्रथम
श्री चौहान ने प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के क्रियान्वयन में राजगढ़ जिले को देश में प्रथम स्थान मिलने पर पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव एवं राजगढ़ जिले की प्रभारी मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया को बधाई दी। इस जिले में 10 हजार 434 आवासों का निर्माण किया गया है। इसी तरह मध्यप्रदेश भी आवास निर्माण में देश में प्रथम स्थान पर है। प्रदेश में एक लाख 71 हजार 605 आवास बनाये गये हैं। इस अवसर पर बताया गया कि ग्रामीण स्वच्छता में पिछले दस दिनों से ग्वालियर पहले नंबर पर चल रहा है। श्री चौहान ने कहा कि महात्मा गाँधी के जन्म-दिन 02 अक्टूबर पर स्वच्छता की गतिविधियाँ शुरू की जाएंगी। इस दिन शहरों को खुले में शौच से मुक्त करने की घोषणा की जाएगी। श्री चौहान ने भारतीय महिला हॉकी टीम में मध्यप्रदेश से 11 बेटियों का चयन होने पर उन्हें और खेल मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया को बधाई देते हुये महिला हॉकी टीम को भविष्य में अच्छे प्रदर्शन की शुभकामनाएँ दी। इस अवसर पर मंत्रीमण्डल के सभी सदस्य, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला एवं सभी विभाग प्रमुख उपस्थित थे।


aaइफ्को, कृभको की तरह बीज संघ का भी ब्रॉण्ड होगा : राज्य मंत्री श्री सारंग


27 September 2017

सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने कहा है कि इफ्को और कृभको की तरह बीज संघ अपना ब्रॉण्ड तैयार कर रहा है। बीज संघ द्वारा शार्ट टर्म और लांग टर्म की योजनाएँ बनाकर उन पर अमल किया जा रहा है। राज्य मंत्री श्री सारंग आज राज्य सहकारी बीज संघ की वार्षिक साधारण सभा को संबोधित कर रहे थे। श्री सारंग ने कहा कि बीज संघ का अपना ब्रॉण्ड होगा। बीज की गुणवत्ता को मेंटेन रखा जाएगा। ब्रॉण्ड के माध्यम से प्रदेश की बीज उत्पादक समितियों के बीज की मार्केटिंग की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस कार्य-योजना पर अमल शुरू कर दिया गया है। यह लांग टर्म योजना है। राज्य मंत्री ने कहा कि बीज उत्पादक समितियों के बीज का पूरी तरह विक्रय सुनिश्चित करने के लिये शार्ट टर्म योजना के अंतर्गत समितियों को लॉजिस्टिक सुविधा देना तुरंत शुरू किया जा रहा है। श्री सारंग ने कहा कि बीज संघ, बीज उत्पादक समितियों के सदस्यों के सुझाव पर अमल करेगा। बीज संघ के माध्यम से बीज सोसायटी की मार्केटिंग चेन बनाई जाएगी। सहकारिता राज्य मंत्री श्री सारंग ने कहा कि प्रदेश के ऐसे क्षेत्रों को चिन्हित किया जाएगा, जो एक प्रकार के बीज उत्पादन के अनुकूल हैं और जहाँ पर बीज उत्पादक समितियाँ उस बीज का उत्पादन कर रही हैं। एक अथवा एक से अधिक जिलों को मिलाकर एक क्लस्टर बनाया जाएगा। बीज उत्पादन में इन समितियों को तकनीकी और वैज्ञानिक इनपुट दिया जाएगा। इस क्षेत्र से बीज का वितरण माँग वाले क्षेत्रों में सुनिश्चित किया जाएगा। बैठक में बीज संघ के वार्षिक प्रतिवेदन, बजट और आय-व्यय का अनुमोदन किया गया। बैठक में एम.डी. बीज संघ श्री आर.के. घिया, एम.डी. अपेक्स बैंक श्री प्रदीप नीखरा, एम.डी. बीज प्रमाणीकरण संस्था श्री के.एस. टेकाम, संबंधित विभागों के अधिकारी और बीज उत्पादक समितियों के पदाधिकारी मौजूद थे।


aaमछुआरों की मजदूरी में 2 रुपये प्रति किलो की वृद्धि की जाएगी


27 September 2017

मछुआ कल्याण एवं मत्स्य विकास मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य ने कहा है कि अब छोटी मछली पकड़ने वाले मछुआरों को 17 रुपये तथा बड़ी मछली पकड़ने वाले मछुआरों को 28 रुपये प्रति किलो मजदूरी दी जाएगी। पूर्व में इन मछुआरों को क्रमश: 15 रुपये एवं 26 रुपये की दर से मजदूरी प्राप्त होती थी। श्री आर्य ने मत्स्य महासंघ की 21वीं वार्षिक आमसभा में यह घोषणा की। मत्स्य विकास मंत्री श्री आर्य ने कहा कि मुख्यमंत्री की मंशानुसार वर्ष 2022 तक कृषि से होने वाली आय को दोगुना करने की योजना के तहत पशुपालन और मत्स्य उद्योग भी अहम भूमिका निभाएंगे। उन्होंने कहा कि मत्स्य-पालन कृषकों की आय का महत्वपूर्ण स्रोत है। प्रदेश सरकार द्वारा मछली उत्पादन बढ़ाने के लिए कारगर प्रयास किए जा रहे हैं। इसके अतिरिक्त, मछुआरों के परिवारों की आजीविका सुरक्षित करने के लिए आजविका सहयोग योजना, प्रोत्साहन पुरस्कार, गंभीर बीमारी के इलाज के लिए अनुदान योजना, मत्स्य महासंघ के जलाशयों के कार्यरत सहकारी समितियों की कार्यशील मछुआ सदस्यों की विवाह योग्य कन्या के लिए मुख्यमंत्री मीनाक्षी विवाह योजना, शिक्षा प्रोत्साहन तथा नाव-जाल अनुदान आदि योजनायें क्रियान्वित की जा रही हैं। मत्स्य महासंघ के संचालक श्री ओ.पी. सक्सेना ने विभाग की प्राथमिकताओं एवं आगामी कार्य-योजना की जानकारी दी। इस अवसर पर प्रबंध संचालक मत्स्य महासंघ श्री महेन्द्र सिंह धाकड़ भी उपस्थित थे।


aaभावांतर योजना का लाभ लेने के लिये किसान नि:शुल्क पंजीयन करवाये


26 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के किसानों से भावांतर योजना का लाभ लेने के लिये पंजीयन करवाने की अपील की है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि किसान भाई प्राथमिक कृषि सहकारी समिति केन्द्र पर 11 सितम्बर से 11 अक्टूबर की अवधि में सोयाबीन, मूंगफली, तिल, रामतिल, मक्का, मूंग, उड़द और अरहर की फसल का नि:शुल्क पंजीयन करवाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि पंजीयन के आधार पर मण्डी में विहित अवधि में बेची गयी फसल पर किसान को न्यूनतम समर्थन मूल्य एवं मॉडल विक्रय दरों की अंतर राशि का भुगतान किया जायेगा। किसानों के बैंक खातों में अंतर राशि राज्य सरकार द्वारा योजना के प्रावधानों के अनुसार जमा करवायी जायेगी।


aaमाटीशिल्प में बेहतर प्रदर्शन के माध्यम से लोगों को मिला रोजगार : ग्रामोद्योग मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य


26 September 2017

ग्रामोद्योग मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य ने कहा कि प्रदेश में माटी के शिल्पकारों द्वारा बेहतर प्रदर्शन किया जा रहा है। इसके माध्यम से हजारों लोगों को रोजगार मिला रहा है। ग्रामोद्योग मंत्री श्री आर्य आज गौहरमहल में माटीकला प्रदर्शनी का उदघाटन करने के बाद समारोह को संबोधित कर रहे थे। ग्रामोद्योग मंत्री श्री आर्य ने कहा कि प्रदेश में कुटीर उद्योगों की आर्थिक कल्याण योजना के माध्यम से लोगों को रोजगार से जोड़ा गया है। मध्यप्रदेश में छोटे और बड़े उद्योग स्थापित करने के लिये इनवेस्टर मीट भी की गई हैं। उन्होंने कहा कि कौशल विकास के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा लोगों को लाभांवित किया जा रहा है। श्री आर्य ने कहा कि प्रदेश में खादी का अधिक से अधिक उपयोग कर खादी ग्रामोद्योग को बढ़ावा दिये जाने की जरूरत है। माटी कला बोर्ड प्रदेश में 3 उत्कृष्ट शिल्पियों को प्रथम पुरस्कार के रूप में एक लाख रूपये, द्वितीय पुरस्कार 50 हजार रूपये एवं तृतीय पुरस्कार 25 हजार रूपये देता है। ग्रामोद्योग मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य ने माटी शिल्पियों को राज्य-स्तरीय पुरस्कार से सम्मानित किया। वर्ष 2013-14 के लिए प्रथम पुरस्कार डा. बलवीर तोमर सीहोर को शॉल-श्रीफल एवं एक लाख रूपये से सम्मानित किया। द्वितीय पुरस्कार श्री ओमप्रकाश प्रजापति को शॉल-श्रीफल एवं 50 हजार रूपये से सम्मानित किया गया। वर्ष 2014-15 के लिए श्री ओमप्रकाश प्रजापति को प्रथम पुरस्कार एक लाख रूपये एवं शॉल-श्रीफल, द्वितीय पुरस्कार देवास के श्री नरेन्द्र को 50 हजार रूपये एवं शॉल-श्रीफल एवं तृतीय पुरस्कार डॉ. बलवीर तोमर सीहोर को प्रदान किया गया। वर्ष 2015-16 के लिए सुश्री रानी प्रजापति सोहागपुर जिला होशंगाबाद को प्रथम पुरस्कार एक लाख रूपये एवं शॉल-श्रीफल से सम्मानित किया गया। द्वितीय पुरस्कार के लिए श्री गोविन्द मूर्तिकार को 50 हजार रूपये एवं शॉल-श्रीफल से सम्मानित किया तथा तृतीय पुरस्कार डॉ. बलवीर तोमर को 25 हजार रूपये और शॉल-श्रीफल से सम्मानित किया गया। माटी शिल्पी डॉ. बलवीर तोमर ने पुरस्कार की राशि सीहोर रोगी कल्याण समिति को देने की घोषणा की। कार्यक्रम में प्रमुख सचिव श्रीमती वीरा राणा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री सी.एम. शर्मा भी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन सुश्री दीपा श्रीवास्तव एवं आभार सुश्री आभा शुक्ला ने व्यक्त किया।


aaशहरों में पदस्थ प्रोफेसर स्वैच्छा से एक साल के लिये विकाखण्ड-स्तर पर पढ़ायें


26 September 2017

उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने कहा है कि बड़े शहरों में पदस्थ प्रोफेसर स्वैच्छा से एक साल के लिये विकासखण्ड-स्तर पर पढ़ाने के लिये जायें। श्री पवैया ने यह बात आज मध्यप्रदेश उच्च शिक्षा परिवार द्वारा आयोजित सम्मान-समारोह में कही। उच्च शिक्षा में नये नवाचार और छात्र एवं प्राध्यापकों के हित में लिये गये निर्णयों के लिये मध्यप्रदेश उच्च शिक्षा परिवार ने मंत्री श्री पवैया का सम्मान किया। मंत्री श्री पवैया ने कहा कि प्रदेश का शिक्षा का स्तर गुणवत्तापूर्ण है तथा अगले एक साल में और बेहतर करने का निरंतर प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के विश्वविद्यालयों में शोध कार्यों की जरूरत है। ज्ञान के क्षेत्र में शोध के जरिए परिणामी गति से आगे बढ़ना होगा। श्री पवैया ने कहा कि प्रोफेसर्स को युवाओं को देश और समाज से जोड़ने का काम भी करना होगा। उन्होंने कहा कि युवाओं को धन से नहीं, बुद्धि से सम्पन्न बनने की जरूरत है। उन्होंने जिंदगी से आगे कॅरियर को नहीं आने की बात कही। श्री पवैया ने ब्लू व्हेल गेम का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने कॉलेज एवं विश्वविद्यालय की ओर से गाइड-लाइन जारी करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि पढ़े-लिखे होने के बाद भी युवाओं में आत्म-हत्या की प्रवृत्ति कैसे मन बना लेती है, इसे दूर करना होगा। मंत्री श्री पवैया ने कहा कि शिक्षक का आचरण, घटनाएँ, बातें, व्यवहार, स्नेह, सान्निध्य और व्यक्तित्व युवाओं तथा समाज को अपनाने को विवश करता है। इसलिये इसका ध्यान रखना चाहिये। शिक्षक समाज और युवाओं का प्रेरणादाता और आदर्श है। उन्होंने कहा कि शिष्य और गुरु के बीच सम्मान का भाव बढ़ाने के लिये इस वर्ष 'गुरुवे नम:'' का कार्यक्रम भी आयोजित किया गया था। मंत्री श्री पवैया ने उनके सम्मान के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हुए सम्मान को मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को समर्पित किया और कहा कि उनके नेतृत्व में ही उच्च शिक्षा को हम नित नये आयाम दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि सामूहिक भावना से किया गया काम कभी व्यर्थ नहीं जाता। श्री पवैया ने कहा कि एसोसिएट प्रोफेसर बनने में छूट गये नामों का भी एक माह में निराकरण होगा। उन्होंने कहा कि लोक सेवा गारंटी में विद्यार्थियों की सुविधाओं को भी जोड़ा गया है। श्री पवैया ने कहा कि कोर्ट केस के कुछ प्रकरण नियमों के अभाव में अस्पष्टता के कारण लम्बित रहते हैं। इसके निराकरण के लिये एक माह में नियम बनाने का काम करने का प्रयास किया जा रहा है। अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा श्री बी.आर. नायडू ने मंत्री श्री पवैया का व्यक्तित्व प्रेरणादायी बताते हुए कहा कि उनसे हमें ऊर्जा प्राप्त होती है। उन्होंने शिक्षकों से कहा कि आपका आचरण समाज में उदाहरण बने, ऐसा प्रयास करें। आयुक्त उच्च शिक्षा श्री नीरज मण्डलोई ने कहा कि शिक्षा में गुणवत्ता, अनुशासन और शिक्षा क्षेत्र में छात्रों के प्रदर्शन से प्रदेश देश में अग्रणी होगा। कार्यक्रम में विभिन्न विश्वविद्यालय/महाविद्यालय के कुलपति, कुल सचिव, प्राचार्य, प्राध्यापक मौजूद थे। मंत्री श्री पवैया का शॉल-श्रीफल से सम्मान कर सम्मान-पत्र का वाचन किया गया। कार्यक्रम के अंत में स्मृति-चिन्‍ह भी दिये गये।


aaसूखे की स्थिति पर 30 सितम्बर तक रिपोर्ट तैयार करें : मुख्यमंत्री श्री चौहान


26 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अविवादित नामांतरण, बँटवारा एवं अन्य राजस्व प्रकरणों संबंधी शिकायतों की संख्या शून्य करने का लक्ष्य तय करते हुए कार्रवाई करने के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्व संबंधी शिकायतों की संख्या शून्य करने के लिये क‍मिश्नर और कलेक्टर समन्वय बनाकर काम करें। यह सुशासन का संकेतक है। श्री चौहान ने इस अवसर पर नयी नामांतरण पंजी का विमोचन किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज यहाँ मंत्रालय में उच्च स्तरीय बैठक में राजस्व विभाग की गतिविधियों की संभागवार समीक्षा करते हुए कहा कि राजस्व प्रकरणों के बेहतर निराकरण से राज्य की छवि का निर्माण होता है। श्री चौहान ने कहा कि हर घर में खसरा-खतौनी की नकल पहुँच जाना चाहिये। भू-अर्जन प्रकरणों की मुआवजा राशि का भी त्वरित निराकरण करें। राजस्व संबंध सभी रिकार्ड अपडेट रखें। श्री चौहान ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि 30 सितम्बर तक केन्द्र सरकार के सूखा मेन्यूअल-2016 के मानदंडों के अनुसार जिलों से सूखे की रिपोर्ट तैयार करें। इसके अंतर्गत कम वर्षा, लगातार चार हफ्तों तक अवर्षा, भूमि की नमी में कमी, भूजल स्तर की कमी, बोनी का क्षेत्रफल कम रह जाना, जलाशयों में जल स्तर की कमी जैसे मानदण्डों के आधार पर जिले में सूखे की स्थिति का आकलन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इसके बाद ही प्रभावित जनसंख्या की सामाजिक-आर्थिक स्थिति का सर्वेक्षण संभव होता है। श्री चौहान ने कम वर्षा की स्थिति देखते हुए उपयुक्त फसलों की बोनी के संबंध में योजना बनाने के निर्देश दिये। उन्होने राहत की व्यापक कार्य-योजना बनाने के निर्देश देते हुए कहा कि इसके लिये ज्यादातर धनराशि राष्ट्रीय आपदा राहत कोष के अंतर्गत मिलेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सूखे की स्थिति का आकलन करने के लिये राज्य के अपने संकेतक और मानदण्ड होना चाहिये। सूखा प्रबंधन केन्द्र बनाकर उसे यह जिम्मेदारी सौंपना चाहिये। इस दिशा में प्रयास किये जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सूखे की स्थिति का आकलन करने की विश्वसनीय व्यवस्था स्थापित करने पर भी विचार किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने संभागायुक्तों को निर्देश दिये कि किसानों के व्यापक हित में उदारतापूर्वक राहत देने के लिये सर्वेक्षण करवायें। जिला कलेक्टरों से समन्वय स्थापित कर उन सभी जिलों के लिये कार्य-योजना बनायें, जहाँ बोनी नहीं हो पाई है और वहाँ के प्रभावित किसानों के लिये ज्यादा से ज्यादा राहत उपलब्ध कराने का प्रयास करें। बैठक में बताया गया कि चम्बल, ग्वालियर और सागर संभागों के जिले ज्यादा प्रभावित हुये हैं जबकि मालवा और महाकौशल के जिलों में औसत वर्षा हुई है।
फसल बीमा की प्रक्रिया में विलंब पर करें सख्त कार्रवाई
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि स्थिति को देखते हुये मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना अंतर्गत ज्यादा से ज्यादा किसानों का पंजीयन करवायें। मुख्यमंत्री ने किसानों की आय दोगुनी करने के लिये पूरी रणनीति बनाकर काम करने के निर्देश देते हुये कहा कि किसान क्रेडिट कार्ड हर किसान को उपलब्ध होना चाहिये। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में सभी किसानों का पंजीयन सुनिश्चित कर समय पर फसल डेटा अपलोड करवाने के निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इस काम में विलंब करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें। उन्होंने कहा कि फसल बीमा योजना का पूरा लाभ तभी मिलेगा, जब समय पर फसल हानि संबंधी आँकड़े समय रहते अपलोड हो जायें।
अच्छा काम करने वालों को सम्मानित करें
मुख्यमंत्री ने राजस्व न्यायालयों में पीठासीन अधिकारियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने के निर्देश देते हुये कहा कि अच्छा काम करने वालों की भरपूर सराहना करें और उन्हें मध्यप्रदेश स्थापना दिवस पर सम्मानित भी करें लेकिन काम नहीं करने वालों की भी सूची बनायें। यदि वे लगातार लापरवाही करते हैं तो ऐसे अधिकारियों और कर्मचारियों को सेवा से निकालने की भी तैयारी करें जिन्होने 50 साल की आयु अथवा शासकीय सेवा में 20 साल पूरे कर लिये हैं। उन्होंने कहा कि निचले स्तर पर अधिकारियों-कर्मचारियों को अपनी मेहनत से नई कार्य संस्कृति विकसित करना होगी। श्री चौहान ने कहा कि जनहित में लगातार अच्छा काम करने वाले कर्मचारियों को बारंबार पुरस्कृत करें। उन्होंने कहा कि सीएम हेल्पलाईन 181 और लोक सेवा प्रदाय गारंटी अधिनियम, सुशासन स्थापित करने के अच्छे प्रशासकीय यंत्र सिद्ध हुए हैं।
जनसुनवाई को बनायें प्रभावी
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संभागायुक्तों को अपने-अपने संभाग के जिलों में जनसुनवाई को और ज्यादा प्रभावी बनाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि कम वर्षा से उत्पन्न स्थिति के लिये अभी से प्रयास शुरू कर दें। पानी रोकने, पीने के पानी की व्यवस्था, बड़ी संख्या में रोपे गये पौधों को बचाने, प्रधानमंत्री आवास योजना, सौभाग्य योजना, उज्जवला योजना जैसी योजनाओं का प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित करें। उन्होंने मुख्यमंत्री ग्रामीण आवास मिशन के अंतर्गत दी जाने वाली धनराशि प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के हितग्राहियों के लिये उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं के क्रियान्वयन की मैदानी स्थिति पर लगातार नजर रखें। प्रधानमंत्री द्वारा प्रत्येक घर में बिजली पहुँचाने की हाल में घोषित योजना सौभाग्य की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जून 2018 तक कोई भी गाँव बिना बिजली के नहीं रहेगा।
आदर्श डिजिटल गांव बनायें
श्री चौहान ने संभागायुक्तों को प्राथमिकताओं पर ध्यान देने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री ने प्रत्येक जिले में कम से कम एक ऐसा गाँव चिन्हित करने के निर्देश दिये जो पूरी तरह से डायरेक्ट बेनेफिट ट्रांसफर में आदर्श गाँव बन सके। उन्होंने ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में भी उद्योगों को आने वाली कठिनाईयों का तत्काल निराकरण करने के निर्देश दिये। उन्‍होंने यह भी कहा कि गरीबी रेखा से नीचे जीने वाले लोगों की सूची की समीक्षा करने की आवश्यकता है ताकि जो लोग गरीबी से बाहर आ चुके हैं, उनके नाम हटाये जा सकें। उन्होंने मई 2018 तक सभी भूमिहीन गरीबों को आवास के लिये भूखण्ड उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री ने राज्य सरकार की प्रस्तावित रेत उत्खनन नीति के संबंध में संभागायुक्तों से सुझाव माँगे। उन्होंने दीनदयाल रसोई, वनोपज खरीदी, गोवंश सुरक्षा और विस्थापन संबंधी कार्यों पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिये। बैठक में राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री एस.के. मिश्रा एवं श्री अशोक वर्णवाल, प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरूण पाण्डे, मुख्यमंत्री के सचिव श्री हरिरंजन राव एवं श्री विवेक अग्रवाल तथा वरिष्ठ अधिकारी और सभी संभागों के आयुक्त उपस्थित थे।


aaविस्थापितों के हितों के लिये राज्य सरकार सजग : राज्य मंत्री श्री आर्य


26 September 2017

नर्मदा घाटी विकास विभाग के राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री लाल सिंह आर्य ने कहा है कि सरदार सरोवर बाँध से मध्यप्रदेश के प्रभावित परिवारों के हितों के संरक्षण के लिये प्रदेश सरकार पूरी तरह सजग और संवेदनशील है। पुनर्वास स्थलों पर बसने वाले परिवारों की कठिनाईयों और समस्याओं का निराकरण सर्वोच्च प्राथमिकता से किया जाएगा। श्री आर्य ने आज यहाँ नर्मदा भवन में सरदार सरोवर बाँध प्रभावित परिवारों के विस्थापन और पुनर्वास कार्यों की समीक्षा करते हुए उक्त बात कही। श्री आर्य ने उच्चतम न्यायालय द्वारा निर्देशित पैकेज के वितरण और मुख्यमंत्री द्वारा घोषित 900 करोड़ रूपये के विशेष पैकेज के धार, बड़वानी, अलीराजपुर और खरगोन जिलों में वितरण की तहसीलवार समीक्षा की। श्री आर्य ने पुनर्वास स्थलों पर उपलब्ध मूलभूत सुविधाओं की भी जानकारी ली। समीक्षा बैठक में नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री रजनीश वैश, सरदार सरोवर परियोजना पुनर्वास आयुक्त श्रीमती रेणु पंत के साथ ही लोक निर्माण, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, नगरीय प्रशासन विभागों के अधिकारी उपस्थित थे। प्राधिकरण उपाध्यक्ष श्री रजनीश वैश ने बताया कि उच्चतम न्यायालय द्वारा आदेशित प्रति परिवार रू. 60 लाख भुगतान के तहत अब तक 711 परिवारों को राशि दी जा चुकी है। इसी प्रकार, आदेशित प्रति परिवार रू. 15 लाख भुगतान के तहत अब तक 872 परिवारों को भुगतान किया जा चुका है। परियोजना के अंतर्गत धार, बड़वानी तथा खरगोन जिलों में कुल 83 पुनर्वास स्थल सभी सुविधाओं के साथ विकसित किये गये हैं। इन पुनर्वास स्थलों पर आने वाले परिवारों को 23 हजार 230 भूखण्ड आवंटित किये जा चुके हैं। आकस्मिकता की स्थिति में इन जिलों में विभिन्न स्थलों पर 27 राहत शिविर भी तैयार हैं। नर्मदा घाटी विकास राज्य मंत्री ने पुनर्वास स्थलों के संधारण और माँग अनुसार विकास कार्य कराने के लिये प्राधिकरण की सतत संधारण योजना पर संतोष व्यक्त किया।


aaस्वाइन फ्लू की रोकथाम के लिये 8 और अस्पताल चिन्हित


25 September 2017

राज्य शासन ने एच1 एन1 संक्रमण, मलेरिया, डेंगू तथा चिकनगुनिया के प्रभावी इलाज के लिये 8 और अस्पताल को चिन्हित किया है। इसके तहत होशंगाबाद में एक, ग्वालियर में 3, सागर में 3 तथा बड़वानी में एक अस्पताल को चिन्हित किया गया है। इस तरह प्रदेश में अब चिन्हित अस्पतालों की संख्या 73 हो गई है। यह जानकारी आज स्वास्थ्य विभाग की दैनिक समीक्षा में दी गई। स्वास्थ्य विभाग द्वारा एच1 एन1 संक्रमण, मलेरिया, डेंगू एवं चिकनगुनिया की प्रभावी रोकथाम के लिये चिन्हित अस्पतालों में भोपाल जिले के ए.के. अस्पताल, अग्रवाल, अक्षय, अराधना, बंसल, भोपाल केयर, चिरायु, सिटी अस्पताल, सी.एम.सी.एच. मेडिकल कॉलेज, हजेला अस्पताल, जे.के. अस्पताल मेडिकल कॉलेज, लाहोटी अस्पताल, एल.बी.एस., मिरेकल, नर्मदा, नेशनल, पालीवाल, पारूल, पी.सी.एम.एस. मेडिकल कॉलेज, पीपुल्स, रेनबो, रेडक्रास, शारदा, सिल्वर लाइन, तृप्ति अस्पताल, इंदौर जिले में एस.ए.आई.एम.एस. अस्पताल, बॉम्बे अस्पताल, सी.एच.एल., विशेष, भण्डारी, अरिहंत, गोकुलदास, इण्डेक्स, लाइफ केयर, ग्लोबस, सुयश, मेदांता, मयूर, अपोलो अस्पताल, चोइथराम, ग्रेटर कैलाश, सिनर्जी, हुकुमचंद, उज्जैन जिले में आर.डी.गार्डी मेडिकल कॉलेज, जी.डी. बिरला अस्पताल, संजीवनी, पाटीदार, सी.एच.एल., एस.एस. अस्पताल शामिल हैं। होशंगाबाद जिले में चिकनगुनिया की रोकथाम के लिये न्यू पाण्डे अस्पताल, केशव अस्पताल, नर्मदा अपना अस्पताल, सेंट जोसफ, मलावी अस्पताल को चिन्हित किया गया है। जबलपुर में जबलपुर रिसर्च अस्पताल, सिटी अस्पताल, नेशनल अस्पताल, महाकौशल और मेट्रो अस्पताल, ग्वालियर में बिरला अस्पताल, एम.आई.एम.एस. मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल, कल्याण मेमोरियल एण्ड के.डी.जी. अस्पताल और माहेश्वरी नर्सिंग होम शामिल हैं। इसी प्रकार बैतूल जिले में संजीवनी, पाढर तथा राठी अस्पताल, रीवा में विंध्य तथा चिरायु अस्पताल, सागर में सागरश्री, भाग्योदय तथा चेटने अस्पताल, बड़वानी में सत्य सांई अस्पताल को एच-1 एन-1 सीजनल इन्फ्लुएंजा की रोकथाम के लिये चिन्हित किया गया है।
प्रारंभिक लक्षण को न करें नजरअंदाज
मरीज में स्वाइन फ्लू के लक्षण की पहचान प्रारंभिक अवस्था में ही कर ली जाये एवं उपचार प्रारंभ कर दिया जाए तो मरीज को बचाया जा सकता है। एच-1 एन-1 के प्रारंभिक लक्षण जैसे सर्दी-जुकाम, खाँसी, गले में खराश, सिर दर्द, बुखार के साथ यदि साँस लेने में तकलीफ हो, तो इसे नजरअंदाज न करें, तत्काल अस्पताल जाकर तुरंत अपनी जाँच करायें। एच-1 एन-1 संक्रमण पॉजिटिव पाये जाने पर पूर्ण उपचार लें। स्वाइन फ्लू संक्रमण से बचाव ही उपचार है। सावधानी बरतकर संक्रमण से बचा जा सकता है।


aaअभियान के बाद राजस्व प्रकरणों के निराकरण का प्रतिशत 51 से बढ़कर 108 हुआ


25 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की मंशानुसार राजस्व प्रकरणों के त्वरित निराकरण के लिए चलाये गए राजस्व अभियान के बाद प्रकरणों के निराकरण का प्रतिशत 51 से बढ़कर 108 हो गया है। दिनांक 10 जुलाई 2017 तक कुल दर्ज प्रकरण 8 लाख 3 हजार 70 में से मात्र 4 लाख 9 हजार 598 प्रकरण निराकृत हुए। दिनांक 11 जुलाई से 20 सितंबर के बीच 4 लाख 49 हजार 724 प्रकरण दर्ज किये गए, जबकि 4 लाख 86 हजार 260 प्रकरणों का निराकरण किया गया। राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने जानकारी दी है कि सीमांकन के प्रकरणों का निराकरण 135, बंटवारा के प्रकरणों का 151 और नामांतरण के प्रकरणों का 291 प्रतिशत निराकरण 11 जुलाई से 20 सितंबर के बीच हुआ है। मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह द्वारा इस बीच संभागवार राजस्व प्रकरणों की समीक्षा की गयी


aaराज्य स्तरीय सूखा मॉनीटरिंग समिति की बैठक सम्पन्न


25 September 2017

मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय सूखा मॉनीटरिंग समिति की बैठक मंत्रालय में सम्पन्न हुई। बैठक में भारत सरकार द्वारा जारी संशोधित सूखा प्रबंधन मेनुअल 2016 के मापदंड के आधार पर प्रदेश में सूखे की स्थिति की समीक्षा की गई । मुख्य सचिव ने अक्टूबर के प्रथम सप्ताह में समिति की बैठक पुन: आयोजित करने के निर्देश दिए हैं। समिति में प्रदेश में एक जून से अब तक वर्षा की स्थिति , फसल की बोवनी , मिट्टी में नमी की स्थिति की जिलेवार जानकारी प्रस्तुत की गई। मौसम विज्ञान विभाग के निदेशक ने वर्षा की स्थिति का प्रस्तुतिकरण दिया। बैठक में अपर मुख्य सचिव योजना एवं आर्थिक सांख्यिकी श्री दीपक खाण्डेकर , अपर मुख्य सचिव ऊर्जा श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव महिला एवं बाल विकास श्री जे. एन. कंसोटिया, प्रमुख सचिव किसान कल्याण श्री राजेश राजौरा, प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरुण पाण्डे, सचिव नगरीय विकास एवं आवास श्री विवेक अग्रवाल तथा मौसम विज्ञान विभाग , केंद्रीय भू-जल आयोग , सुदूर संवेदन केंद्र के अधिकारी उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा “प्रेस एन्क्लेव” के प्रवेश द्वार का लोकार्पण


24 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राजधानी पत्रकार गृह निर्माण सहकारी संस्था मर्या. की भूमि को फ्री-होल्ड करने का विचार किया जाएगा ताकि सदस्य आवास निर्माण के लिये आसानी से बैंक लोन ले सकें। उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रानिक और फोटो पत्रकारिता में सक्रिय सदस्यों के लिये आवासीय सुविधा उपलब्ध कराने पर विचार किया जाएगा। मुख्यमंत्री आज यहां आवासीय कालोनी “प्रेस एन्क्लेव” के कार्यालय एवं प्रवेश द्वार के लोकार्पण समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पत्रकार विपरीत परिस्थितियों में भी काम करते हैं और समाज को सूचना संपन्न बनाते हैं। उन्होंने कहा कि श्रमजीवी पत्रकारों के लिये आवास एक आधारभूत सुविधा है। राज्य सरकार इसमें हर प्रकार से सहयोग करेगी। सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग ने कहा कि प्रजातंत्र के चौथे स्तम्भ पत्रकारिता से जुड़े लोगों को मजबूत बनाने की दिशा में आवासीय कालोनी का निर्माण मील का पत्थर साबित होगा। सांसद श्री आलोक संजर ने पत्रकारों के लिये श्रद्धानिधि स्थापित करने जैसे प्रयासों के लिये मुख्यमंत्री श्री चौहान की सराहना की। संस्था के अध्यक्ष श्री के.डी. शर्मा ने अतिथियों का स्वागत किया। उपाध्यक्ष श्री वीरेन्द्र सिन्हा ने मुख्यमंत्री को कालोनी की समस्याओं से संबंधित ज्ञापन सौंपा। सेंट्रल प्रेस क्लब के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और संस्था के संस्थापक संचालक श्री विजयदास ने कार्यक्रम का संचालन किया। इस अवसर पर प्रमुख सचिव जनसंपर्क श्री एस.के. मिश्रा, आयुक्त जनसम्‍पर्क श्री अनुपम राजन एवं बड़ी संख्या में मीडियाकर्मी एवं संस्था के सदस्य उपस्थित थे।


aaमानव जीवन के लिए नदी बचाना जरूरी : मुख्यमंत्री श्री चौहान


24 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जी ने आज विदिशा में आयोजित नदी अभियान कार्यक्रम में कहा कि नदियां मानव जीवन का आधार हैं। इसलिये नदियों को बचाने के लिए आमजनों को भी साथ आना होगा। उन्होंने कहा कि आने वाली पीढ़ी को हम प्रचुर मात्रा में जल और अच्छा पर्यावरण विरासत में दें, इसके लिए सदगुरू श्री जग्गी वासुदेव के अभियान में सबको बढ़-चढ़कर भाग लेना होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विदिशावासियों से अपील की कि नर्मदा सेवा यात्रा की तर्ज पर बेतवा को बचाने के लिए सेवा यात्रा जरूर निकालें। बेतवा बरसाती नदी बनकर ना रह जाए। इसके लिए नदी के दोनो तरफ एक-एक किलोमीटर तक फलदार पौधे लगाए जाएंगे। श्री चौहान ने कहा कि निजी भूमिधारक कृषक भी इस काम में अपनी सहभागिता निभाएं। किसानों द्वारा अपनी निजी भूमि पर पौधे लगाने के लिये उन्हें पचास प्रतिशत अनुदान पर शासन पौधे मुहैया कराएगा और शुरू के तीन वर्षो तक संबंधित किसानों को राज्य सरकार द्वारा मुआवजा राशि भी दी जाएगी। नदी अभियान के संवाहक सदगुरू श्री जग्गी वासुदेव ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार ने नदी अभियान को धरातल पर अवतरित करने के कार्यो में सबसे ज्यादा मदद की है। उन्होंने पौधो पर अनुदान देने की घोषणा को मील का पत्थर बताते हुए आग्रह किया कि अधिक से अधिक पौधे रोपे जाएं और उन्हें जीवित रखा जाए। फलदार पौधे लगाने एवं औषधीय खेती करने से जहां किसानों को अधिक मुनाफा होगा, वही पर्यावरण बेहतर बनेगा और नदियों में जल की प्रचुर मात्रा बनी रहेगी। सदगुरू ने लोगों से नदी अभियान से जुड़ने की अपील की। सदगुरू श्री जग्गी वासुदेव और मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने श्री बाढ वाले गणेश मंदिर के समीप बने बेतवा नदी के तट पर पहुंचकर नदी की पूजा-अर्चना की। सदगुरू ने बेतवा नदी के साथ सेल्फी ली। इस अवसर पर मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान ने सदगुरू श्री जग्गी वासुदेव को स्मृति चिन्ह के रूप में सांची का स्तूप भेंट किया। श्री बाढ वाले गणेश मंदिर प्रागंण में हुए नदी अभियान कार्यक्रम में राज्यमंत्री श्री सूर्यप्रकाश मीणा, विधायक श्री कल्याण सिंह ठाकुर, नगरपालिका अध्यक्ष श्री मुकेश टण्डन, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री तोरण सिंह दांगी समेत जनप्रतिनिधि एवं गणमान्य नागरिक शामिल हुए।


aaअच्छी शिक्षा के लिए संसाधनों का विकास जरूरी : जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र


24 September 2017

जल संसाधन, जनसम्पर्क एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज दतिया विधानसभा क्षेत्र के ग्राम बरोह में एक करोड़ रूपये लागत के शाला भवन का शिलान्यास किया। डॉ. मिश्र ने इस अवसर पर कहा कि बच्चों को अच्छी से अच्छी शिक्षा मिले, इसके लिए अच्छे से अच्छे भवन बनवाए जा रहे हैं। सभी गांव को सड़कों से जोड़ा जा रहा है। कार्यक्रम में पाठ्य-पुस्तक निगम के उपाध्यक्ष श्री अवधेष नायक, डॉ. रामजी खरे एवं श्री विपिन गोस्वामी ने भी विचार व्यक्त किए। डॉ. नरोत्तम मिश्र ने बडौनी तहसील के ग्राम लोकनपुर सिजोरा में भावांतर भुगतान योजना का कृषकों को पंजीयन वितरित कर शुभारंभ किया। डॉ. मिश्र ने इस अवसर पर किसानों से कहा कि इस योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों को मेहनत से पैदा की गई फसल का सही मूल्य दिलाना है। इस योजना में यदि मंडी में किसान की फसल न्यूनतम मूल्य से कम दाम पर बिकती है, तो मंडी और समर्थन मूल्य के भाव में जो अंतर है, वह राशि किसानों को सीधे उनके खातों में दी जाएगी। उन्होंने किसानों से अपील की कि 11 अक्टूबर तक अपनी फसल का रजिस्ट्रेशन जरूर करा लें।


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने किया पार्क और व्यायाम शाला का भूमि-पूजन


24 September 2017

राजस्व,विज्ञान एवं प्रद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने वार्ड-27 स्थित वीरांगना परिसर में पार्क और वार्ड-25 स्थित कस्तूरबा स्कूल के पास व्यायाम शाला का भूमि-पूजन किया। उन्होंने निर्माण कार्य समय-सीमा में पूरा करने के निर्देश दिये। श्री गुप्ता ने शासन की विभिन्न जन-कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी भी दी। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaराजा भोज विमानतल पर 100 फीट ऊँचे स्तंभ पर लहरायेगा तिरंगा


22 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश के व्यापारिक विस्तार और भोपाल एवं इन्दौर से विदेश जाने वाले यात्रियों की बड़ी संख्या को देखते हुये दोनों विमान तलों को अंतर्राष्ट्रीय विमान तल का दर्जा मिलना चाहिये। इसके लिये केंद्र सरकार से चर्चा की जाएगी। वे आज यहां राजाभोज विमानतल पर 100 फीट ऊँचे स्मारकीय ध्वज स्तंभ पर राष्ट्रीय ध्वजारोहण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। विमानतल पर बीस फीट लंबे और 30 फीट चौड़े आकार का यह राष्ट्रीय ध्वज 24 घंटों लहराएगा। इसको प्रदीप्त रखने के लिये पॉवर बैकअप की व्यवस्था की गई है। ध्वज स्तंभ का रख-रखाव भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण करेगा। नागरिक उड्डयन मंत्रालय, भारत सरकार के निर्देशानुसार इसकी स्थापना की गयी है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ध्वजारोहण समारोह में कहा कि प्रदेश के व्यापारिक और औद्योगिक विस्तार को देखते हुये अच्‍छी वायु सेवा होना चाहिये। राज्य सरकार इसके लिये पूरा सहयोग देगी। उन्होंने कहा कि तिरंगा भारत की शान है, राष्ट्र का गौरव है। तिरंगे के लिये कई देश भक्तों ने अपना बलिदान दिया है। यह हर पल राष्ट्रभक्ति की प्रेरणा देता रहेगा। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर एक मेगावॉट क्षमता के सौर ऊर्जा संयंत्र का शिलान्यास भी किया। यह सयंत्र अगले तीन महीनों में पूरा हो जाएगा। यह भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण और मध्यप्रदेश ऊर्जा विकास निगम का संयुक्त प्रयास है। इस संयंत्र से हर साल लगभग 12 लाख यूनिट बिजली का उत्पादन होगा। इससे भोपाल हवाई अड्डे के बिजली बिल में प्रति वर्ष लगभग एक करोड़ रूपये की बचत होगी। परियोजना की कुल लागत पाँच वर्ष से भी कम समय में वसूल हो जाएगी। मुख्यमंत्री को विमान प्राधिकरण की ओर से स्मृति चिन्ह भेट किया गया। विमानपत्तन के निदेशक फ्लाइट लेफ्टिनेंट श्री आकाशदीप माथुर ने अतिथियों का स्वागत किया। भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के अध्यक्ष डा. गुरूप्रसाद महापात्र ने मुख्यमंत्री को बताया कि जल्दी ही भोपाल से कुछ नई उड़ाने शुरू करने पर विचार किया जा रहा है। इस अवसर पर विधायक श्री रामेश्वर शर्मा, मध्यप्रदेश उर्जा विकास निगम के अध्यक्ष श्री विजेंद्र सिंह सिसोदिया एवं विमानतल के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।


aaमदरसों में दीनी तालीम के साथ आधुनिक शिक्षा भी जरूरी - मुख्यमंत्री श्री चौहान


22 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मदरसों के अधोसंरचना विकास के लिये प्रत्येक मदरसे को मिलने वाली सालाना राशि 25 हजार रूपये से बढाकर 50 हजार कर दी जाएगी। म.प्र. मदरसा बोर्ड के लिये आडिटोरियम भी बनाया जाएगा। श्री चौहान आज यहां मदरसा बोर्ड के 20वें स्थापना दिवस और एक दिवसीय मदरसा शिक्षा सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान ने कहा कि दीनी तालीम के साथ-साथ मदरसों में आधुनिक शिक्षा भी दी जाए। आधुनिक समय में बच्चों को हुनरमंद बनाना जरूरी है। एक ओर बेरोजगारी है और दूसरी ओर हुनरमंद लोग नहीं मिलते। इस स्थिति को दूर करना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चों को दीनी और आधुनिक शिक्षा साथ-साथ देते हुए उन्हें अच्छा इन्सान बनाना होगा। श्री चौहान ने बताया कि सरकार ने बच्चों की शिक्षा में किसी प्रकार का भेदभाव नही होने दिया है। सबके लिये योजनाएं हैं। विद्यार्थी ईश्वर का उत्कृष्ट उपहार हैं। इनके लिये बेहतर से बेहतर करने की जिम्मेदारी सरकार की है। उन्होने कहा कि शिक्षा का उद्देश्य विद्यार्थियों में ज्ञान का हस्तांतरण करना, उन्हें हुनरमंद बनाना और अच्छे नागरिक संस्कार देना है। श्री चौहान ने कहा कि सब मिलकर राष्ट्र की सेवा करें। स्कूल शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह ने कहा कि मदरसा कक्षाओं में पहली कक्षा से ही कम्प्यूटर शिक्षा दी जा रही है। उन्होंने बताया कि अन्य स्कूलों की तरह मदरसों में भी हर दिन तिरंगा फहराया जाएगा। उन्होने मदरसा बोर्ड में आधुनिक शिक्षा देने में हुई प्रगति की सराहना की। समारोह में मदरसा बोर्ड के अध्यक्ष प्रो सैयद इमादुददीन ने बताया कि अब तक 2575 मदरसों का पंजीयन हुआ है जिनमें दो लाख 88 हजार बच्चे पढाई कर रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर उत्कृष्ट मदरसों, उत्कृष्ट मदरसा शिक्षक-शिक्षिकाओं और प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को सम्मानित किया। मदरसा बोर्ड की उल्लेखनीय प्रगति दर्शाने वाली स्मारिका का विमोचन भी किया। समारोह में महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस, अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री श्रीमती ललिता यादव, सासंद श्री नंद कुमार सिंह चौहान एवं श्री मनोहर ऊंटवाल, छत्तीसगढ मदरसा बोर्ड के अध्यक्ष श्री ऐजाज बेग, राजस्थान मदरसा बोर्ड की श्रीमती मेहरून्निसा, केन्द्रीय हज कमेटी के सदस्य मोहम्मद इरफान, पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष श्री तपन भौमिक, दिल्ली के मुख्य इमाम श्री ओमर अहमद इलयासी उपस्थित थे।


aaपटवारियों को नायब तहसीलदार पद तक मिलेगी पदोन्नति


22 September 2017

पटवारियों को कम से कम नायब तहसीलदार के पद तक पदोन्नति दिलवाने के लिए जरूरी नियम बनाए जाएंगे1 पटवारियों की पदोन्नति परीक्षा के साथ ही सी.आर. और वरिष्ठता के आधार पर भी होगी। राजस्व, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने यह बात वार्ड-26 स्थित बरखेड़ी कला में किसानों को खसरा-खतौनी के नि:शुल्क वितरण कार्यक्रम में कही। श्री गुप्ता ने कहा कि हर गाँव में शिविर लगाकर नि:शुल्क खसरा-खतौनी का वितरण करें। हर वर्ष खसरा-खतौनी की नकल नि:शुल्क वितरित की जायेगी।
मोबाईल एप से मिलेगी खसरा-खतौनी की नकल
राजस्व मंत्री ने कहा कि जल्द ही किसान मोबाइल एप के माध्यम से खसरा-खतौनी की नकल निकाल सकेंगे। मोबाइल एप बनाने की कार्यवाही चल रही है। श्री गुप्ता ने कहा कि किसानों की समस्याओं के निराकरण के हरसंभव प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि जहाँ पहले कर्ज से किसान पूरे जीवन भर परेशान रहता था, अब उसे ब्याज से तो मुक्ति मिली ही है, इसके साथ ही मूलधन में भी मात्र 90 प्रतिशत लौटाना है। श्री गुप्ता ने बताया कि जहां 2003 तक मात्र 7 लाख हेक्टेयर में सिंचाई सुविधा उपलब्ध थी अब यह बढ़ कर 36 लाख हेक्टेयर हो गयी है। किसान को 24 घंटे बिजली मिल रही है। गाँव-गाँव तक पक्की सड़के बनायी जा चुकी हैं। इसके साथ ही लगभग साढ़े पांच करोड़ लोगों को एक रुपये किलो की दर पर खाद्यान्न दिया जा रहा है। लाड़ली लक्ष्मी योजना में 37 लाख से अधिक कन्याएँ लाभान्वित हो चुकी हैं। उन्होंने बताया कि इसी वर्ष लागू हुई मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना में अब मेडिकल और इंजीनियरिंग सभी तरह की उच्च शिक्षा की फीस सरकार देगी। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaराजस्व विभाग की संभाग स्तरीय समीक्षा पुन: प्रारंभ होगी


21 September 2017

मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह ने 'परख' वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से संभागायुक्तों एवं कलेक्टरों को निर्देशित किया है कि भावांतर भुगतान योजना का बेहतर क्रियान्वयन सुनिश्‍चित करें। जिलों में सूखे की स्थिति को ध्यान में रखकर समय से रिपोर्ट भेजें। शिक्षकों को ऐसे कार्य ना सौंपें, जिससे पठन-पाठन के मुख्य कार्य में बाधा उत्पन्न हो। श्री सिंह ने बताया कि राजस्व विभाग की संभाग स्तरीय समीक्षा पुन: प्रारंभ की जाएगी। अक्टूबर के प्रथम सप्‍ताह में भोपाल संभाग की समीक्षा होगी। अपर मुख्य सचिव उर्जा श्री इकबाल सिंह बैंस ने आनंद विभाग की जानकारी देते हुए बताया कि इसमें स्व-प्रेरणा से कार्य किये जा रहे हैं । प्रदेश में 172 जगह आनंदम स्थल तथा 49 स्थानों पर अल्प विराम कार्यक्रम चल रहे हैं। प्रदेश में 135 आनंद क्लब गठित हो चुके हैं। इसके अतिरिक्त शासकीय सेवकों को पंचगनी,बैंगलोर एवं कोयम्बटूर में प्रशिक्षण लेने पर 20 हजार रूपये की प्रतिपूर्ति-शासन द्वारा की जाएगी। सचिव मुख्यमंत्री श्री हरिरंजन राव ने जन शिकायत निवारण विभाग के माध्यम से प्राप्‍त शिकायतों के निराकरण की स्थिति बताते हुए कहा कि अलग-अलग जगहों पर प्राप्‍त शिकायतों की एकीकृत व्यवस्था प्रारंभ की गयी है। सीएम-हेल्प लाईन,मुख्यमंत्री के दौरे के समय प्राप्‍त शिकायतें, मुख्यमंत्री ऐप,कलेक्टर जनसुनवाई एवं ऑनलाईन प्राप्‍त शिकायतों को अब एक ही जगह पर देखा जा सकेगा। जल्द ही जिलों में होने वाले लोक कल्याण शि‍विरों में प्राप्‍त शिकायतों को भी इस एकीकृत व्यवस्था में जोड़ा जाएगा। अभी तक कुल 12 लाख 46 हजार 628 शिकायतें प्राप्‍त हुई हैं। इनमें से 42% में प्रगति परिलक्षित है एवं 41.35% संतुष्‍टी स्तर की पायी गयी हैं। प्रमुख सचिव नगरीय विकास श्री मलय श्रीवास्तव ने नगरीय क्षेत्रों में जलस्त्रोतों से पेयजल उपलब्धता को प्राथमिकता देने को कहा। उन्होंने कहा कि पेयजल के लिए 16 करोड़ रूपये के प्रस्ताव तैयार किये गये हैं। परख में भावांतर भुगतान योजना, मुख्यमंत्री ग्राम नलजल योजना, सार्वजनिक वितरण प्रणाली में समग्र डाटाबेस एवं आधार सीडिंग की स्थिति, स्कूली छात्र-छात्राओं का आधार पहचान पत्र की भी समीक्षा की गयी। परख वीडियो कान्फ्रेंसिंग में प्रमुख सचिव कृषि डॉ राजेश राजौरा, प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरूण पाण्डे, प्रमुख सचिव जल संसाधन श्री पकंज अग्रवाल, सचिव खनिज साधन श्री मनोहर दुबे उपस्थित थे


aaनया भू-प्रबंधन अधिनियम बनेगा : राजस्व प्रशासन बनेगा सिटीजन फ्रेण्डली मुख्यमंत्री द्वारा राजस्व विभाग की समीक्षा बैठक में निर्देश


21 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिये हैं कि राजस्व विभाग से संबंधित अप्रासंगिक कानून समाप्त किये जायें और नये सरल कानून बनाये जायें। राजस्व प्रक्रियाओं का सरलीकरण किया जाये। नया भू–प्रबंधन अधिनियम बनाया जाये। आम जनता के हित में राजस्व संबंधी यह कार्य समय-सीमा में क्रियान्वित किये जायें। उन्होंने कहा कि राजस्व संबंधी कार्य राज्य शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता है। राजस्व प्रशासन को सिटीजन फ्रेण्डली बनाया जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ मंत्रालय में राजस्व विभाग की समीक्षा बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, राज्य भूमि सुधार आयोग के अध्यक्ष श्री आई.एस. दाणी भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राजस्व विभाग में सभी रिक्त पदों पर भर्ती समय-सीमा में पूरी करें। राजस्व ग्रामों में कोटवारों की व्यवस्था को फिर से लागू करें। पटवारियों तथा अन्य राजस्व अमले के प्रशिक्षण की बेहतर व्यवस्था की जाए। राजस्व विभाग में पदों का युक्तियुक्तकरण किया जाए। नजूल के पट्टों के नवीनीकरण की योजना बनाएं। नई बसाहटों का नजूल सर्वे किया जाए। राजस्व न्यायालयों के लिये रीडरों का नया कैडर बनायें। राजस्व निरीक्षण वृत्तों का पुनर्गठन किया जाए। राज्य स्तर पर विभाग में विधिक सलाह प्रकोष्ठ गठित किया जाए। पटवारियों के लिये हल्कों में पटवारी सह आवास कार्यालय बनाये जाए। राजस्व अभिलेखों के संधारण के लिये आधुनिक तकनीक का उपयोग किया जाए। राजस्व न्यायालयों में संसाधन बढ़ाये जाए।
प्रोटोकॉल जैसे कार्यों के लिये अलग से कैडर
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राजस्व अमले के काम निर्धारित किये जाएं। प्रोटोकॉल जैसे कार्यों के लिये अलग से कैडर बनाने पर विचार किया जाए। पशु संगणना तथा वर्षा मापन जैसे कार्यों को संबंधित विभागों को सौंपा जाए। राजस्व विभाग में रिकॉर्ड रूम की व्यवस्था में सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग किया जाए। राजस्व न्यायालयों में विभिन्न स्तरों पर लंबित प्रकरणों के बैकलॉग को समाप्त करने का समयबद्ध कार्यक्रम बनाए। उच्च न्यायालय के आदेशों को हिन्दी में अनुवाद करने की व्यवस्था की जाए। राजस्व संबंधी प्रकरणों के समय-सीमा में निराकरण के लिये मुख्यमंत्री हेल्प लाइन में अलग से व्यवस्था की जाए। भूमि के रिकॉर्ड का बेहतर प्रबंधन किया जाए। राजस्व न्यायालयों की कार्य प्रणाली में सुधार किया जाए। प्राकृतिक आपदा के समय लोगों तक राहत पहुँचाने की व्यवस्था को मजबूत बनाया जाए। मोबाइल एप्प पर खसरे की नकल
मोबाइल एप्प पर खसरे की नकल
राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने कहा कि राजस्व प्रकरणों में शासकीय वकील नियुक्त किये जाएं। मोबाइल एप्प पर खसरे की नकल उपलब्ध कराई जाए। पटवारियों की पदोन्नति की व्यवस्था बनाई जाए। बैठक में बताया गया कि प्रदेश में राजस्व खातों की संख्या एक करोड़ 41 लाख है। प्रदेश में राजस्व प्रकरणों के निराकरण के लिये अभियान शुरू किया गया है। पिछले ड़ेढ़ माह में राजस्व संबंधी 4 लाख 86 हजार 260 प्रकरण निराकृत किये गये हैं। राजस्व विभाग में तकनीकी के उपयोग के लिये वेबजीआईएस, मॉर्डन रिकॉर्ड रूम, नक्शों का डिजीटाइजेशन, सर्वे प्रोजेक्ट तथा रेवेन्यू कोर्ट मैनेजमेंट सिस्टम क्रियान्वित किया जा रहा है। बैठक में प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरूण पांडे, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव द्वय श्री अशोक वर्णवाल और श्री एस.के. मिश्रा, मुख्यमंत्री के सचिव श्री हरिरंजन राव, श्री विवेक अग्रवाल, आयुक्त भू-अभिलेख श्री एम.के. अग्रवाल तथा राजस्व विभाग के वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।


aaरीवा में कचरे से बनेगी बिजली : उद्योग मंत्री श्री शुक्ल


21 September 2017

रीवा के विकास में आज एक और उपलब्धि तब जुड़ गई जब उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने पहड़िया गांव में 158.67 करोड़ रूपये की लागत से बनने वाले वेस्ट टू एनर्जी आधारित एकीकृत क्षेत्रीय ठोस अपशिष्ट प्रबंधन क्लस्टर का शिलान्यास किया। इस संयंत्र से रीवा में कचरे से बिजली बनने लगेगी। रीवा एक ऐसा संभाग हो जाएगा, जहां कोयला, पानी, सौर ऊर्जा एवं कचरे से बिजली उत्पादन होने लगेगा। इस संयंत्र में 340 मैट्रिक टन कचरे से प्रतिदिन 6 मेगावाट विद्युत का उत्पादन होगा। शिलान्यास समारोह में सांसद श्री जनार्दन मिश्र, तथा महापौर श्रीमती ममता गुप्ता भी मौजूद थे। श्री राजेन्द्र शुक्ल ने इस अवसर पर कहा कि उन्होंने रीवा शहर सहित अन्य नगरीय निकायों साफ-सुथरे बनाने और कचरे का प्रबंधन सुनिश्चित करने का संकल्प लिया था। उन्होंने बताया कि इस संयंत्र में रीवा सहित संभाग के सीधी एवं सतना जिलों के 28 नगरीय निकायों का कचरा आएगा, जहां अत्याधुनिक तकनीक से बिना किसी प्रदूषण के बिजली बनाने का काम होगा। उद्योग मंत्री ने पहड़िया ग्रामवासियों को आश्वस्त किया कि संयंत्र में आने वाला कचरा पूर्णत: बंद वाहनों में लाकर बंद संयंत्र में ही जलाकर बिजली पैदा की जाएगी। इससे कहीं भी किसी भी प्रकार की गंदगी अथवा प्रदूषण नहीं होगा। संयंत्र के चारों ओर हरे भरे वृक्ष लगाये जाएंगे और पार्क भी विकसित किया जाएगा। इसके साथ ही पहड़िया गांव का भी सर्वागीण विकास किया जायेगा। संयंत्र की बाउण्ड्री के बाहर सुलभ काम्पलेक्स बनाए जाएंगे और ग्राम पहड़िया को सर्व-सुविधायुक्त आदर्श ग्राम के तौर पर विकसित किया जाएगा। उन्होंने पहड़िया स्कूल का हाईस्कूल में उन्नयन और स्वास्थ्य केन्द्र को बेहतर बनाने का आश्वासन दिया।


aaजनता की संतुष्टि को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाये : मुख्यमंत्री श्री चौहान


20 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि विभागीय गतिविधियों में जनता की संतुष्टि को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाये। जनता की संतुष्टि में ही कार्य की दक्षता है। उन्होंने कहा कि विद्युत आपूर्ति की गुणवत्ता और बिलों की सहजता जनता की संतुष्टि का आधार है। इसको निरंतर बेहतर बनाने के प्रयास किये जाएं। श्री चौहान आज मंत्रालय में ऊर्जा विभाग की समीक्षा कर रहे थे। इस अवसर ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन और मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में अल्प वर्षा के कारण सूखे की स्थिति बनने की संभावना है। इसलिये रबी और धान की फसल के लिये विद्युत आपूर्ति के समुचित प्रबंध किये जाएं। ट्रांसफार्मर के जलने और खराब ट्रांसफार्मरों को समय से बदलने की त्वरित और प्रभावी व्यवस्था हो। उन्होंने कार्य की कड़ी निगरानी किये जाने के निर्देश दिये। विभाग द्वारा विद्युत बैंकिंग और बिजली पंचायतों के नवाचारों की सराहना करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि इसे और अधिक प्रभावी बनाया जाए। बिजली की आपूर्ति गुणवत्तापूर्ण रहे, इसकी कड़ी निगरानी की जाए। मुख्यमंत्री को बताया गया कि ट्रांसफार्मरों की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के प्रभावी प्रयास किये गये हैं। मानव संचालित टेस्टिंग लैब में टेस्टिंग की व्यवस्था के साथ ही कम्प्यूट्रीकृत टेस्टिंग लैब की स्थापना का कार्य भी प्रगति पर है। प्रदेश में बिजली पंचायतों का 22 हजार 667 ग्राम पंचायतों में आयोजन हुआ है। प्राप्त एक लाख 332 समस्याओं में से 98 हजार 91 का निराकरण हो गया है। वर्ष 2016-17 के दौरान किसानों को एक लाख 88 हजार 612 स्थाई विद्युत पम्प कनेक्शन दिए गये हैं। वर्तमान वित्तीय वर्ष के दौरान 38 हजार 606 स्थाई विद्युत पंप कनेक्शन किये गये हैं। विभाग द्वारा उच्च दाब बिलिंग चक्र में परिवर्तन कर राजस्व आय में वृद्धि और महत्वपूर्ण उपकरणों के क्रय, वितरण और संधारण के एक समान मानक निर्धारित कर गुणवत्ता सुनिश्चित करने की नई पहल की है। बैठक में अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए.पी.श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव ऊर्जा श्री इकबाल सिंह बैंस, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


aaअखिल भारतीय कालीदास समारोह 31 अक्टूबर से 6 नवम्बर तक होगा


20 September 2017

अखिल भारतीय कालीदास समारोह-2017 के आयोजन के संबंध में केन्द्रीय समिति की बैठक आज संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा की अध्यक्षता में भोपाल में सम्पन्न हुई। इस वर्ष यह समारोह 31 अक्टूबर से 6 नवम्बर 2017 तक होगा। ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन विशेष रूप से बैठक में शामिल हुए। केन्द्रीय समिति ने कालिदास समारोह 2016 के निर्णय/पालन प्रतिवेदन, वास्तविक व्यय के अनुमोदन के साथ ही इस वर्ष के आयोजन को गरिमामय तरीके से आयोजित करने का निर्णय लिया। प्रमुख सचिव संस्कृति श्री मनोज श्रीवास्तव ने समारोह की रूपरेखा प्रस्तुत की। उन्होंने बताया कि समारोह के एक दिन पहले 30 अक्टूबर को मंगल कलश यात्रा एवं नान्दी कार्यक्रम होगा। कलश यात्रा उज्जैन के क्षिप्रा तट से कालिदास अकादमी परिसर तक जाएगी। स्थानीय जन-प्रतिनिधि, स्थानीय एवं केन्द्रीय समिति के सदस्य, शहर के गणमान्य नागरिक, विद्यार्थी, सांस्कृतिक दल के साथ ही अन्य दल कालिदास साहित्य से अनुप्रमाणित इस झाँकी यात्रा में शामिल होंगे। नान्दी कार्यक्रम में भक्ति संगीत होगा। उल्लेखनीय है कि अखिल भारतीय कालिदास समारोह का आयोजन हर वर्ष संस्कृति विभाग के तत्वावधान में विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन एवं कालिदास संस्कृत अकादमी उज्जैन द्वारा किया जाता है। संस्कृति राज्य मंत्री श्री सुरेन्द्र पटवा ने मध्यप्रदेश साहित्य अकादमी के प्रकाशन ''साहित्यिक गजेटियर जिला जबलपुर'' एवं 'अंतर्राष्ट्रीय विचार महाकुंभ डाइजेस्ट'' का विमोचन किया। बैठक में उज्जैन (दक्षिण) के विधायक डॉ. मोहन यादव, उज्जैन संभागायुक्त श्री एम.बी. ओझा सहित केन्द्रीय समिति के अन्य सदस्य उपस्थित थे।
समारोह में होंगे रोजाना कार्यक्रम।
समारोह में पहले दिन 31 अक्टूबर को समारोह का विधिवत शुभारंभ होगा। इसी दिन कालिदास संस्कृत नाटक का मंचन होगा। दूसरे दिन एक नवम्बर को शास्त्र-धर्मी शैली पर आधारित तथा पारम्परिक शैली से प्रेरित नृत्य-नाटिका, दो नवम्बर को पारम्परिक संस्कृति साहित्य पर आधारित हिन्दी नाटक, तीन नवम्बर को लोक शैली/पारम्परिक शैली पर कार्यक्रम, चार नवम्बर को शास्त्र-धर्मी शैली के गायन, पाँच नवम्बर को शास्त्रीय शैली में नृत्य और अंतिम दिन 6 नवम्बर को शास्त्रीय शैली में वादन-गायन से समारोह का समापन होगा।
राष्ट्रीय कालिदास चित्र एवं मूर्तिकला प्रदर्शनी
कालिदास समारोह के आरंभ वर्ष 1958 से ही कालिदास के किसी एक ग्रंथ पर केन्द्रित राष्ट्रीय कालिदास चित्र एवं मूर्तिकला प्रदर्शनी लगाई जाती है। इसमें देशभर के कलाकार पारम्परिक एवं लोक शैलियों में चित्रकारी करते हैं। यह कलाकृतियाँ समारोह में प्रदर्शित की जाती हैं। इसमें चयनित 5 कलाकृतियों को पुरस्कृत भी किया जाता है। इस वर्ष प्रदर्शनी का विषय 'रघुवंशम'' पर केन्द्रित है, जिसके लिये कलाकृतियाँ आमंत्रित की गई हैं।


aaप्रदेश की सात हॉकी खिलाड़ी बेटियों का भारतीय ए टीम में चयन


20 September 2017

मध्यप्रदेश हॉकी अकादमी की सात खिलाड़ी बेटियों के भारतीय महिला हॉकी टीम में चयन की खबर से खेल जगत में खुशी की लहर दौड़ गई है। प्रदेश की खेल और युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने भारतीय महिला हॉकी 'ए' टीम में अकादमी की खिलाड़ी बेटियों के चयन पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए खिलाड़ी बेटियों को बधाई दी है। उन्होंने खिलाड़ियों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर शानदार प्रतिभा प्रदर्शन के लिए प्रोत्साहित करते हुए शुभकामनाएँ भी प्रेषित की हैं। गौरतलब है कि हॉकी इंडिया द्वारा 18 सदस्यीय महिला हॉकी 'ए' टीम की घोषणा की गई हैं। भारतीय टीम में मध्यप्रदेश राज्य महिला हॉकी अकादमी की जिन खिलाड़ियों का चयन किया गया है उनमें प्रीति दुबे (फारवर्ड) (कप्तान) बिचु देवी खारिबम एवं दिव्या ठेपे (गोलकीपर), नीलू डाडिया एवं सुमन देवी (डिफेंडर), इशिका चौधरी और नीलांजली राय (मिडफील्डर) शामिल हैं।
प्रतिभा प्रदर्शन का अवसर।
प्रदेश की खेल और युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया द्वारा खेलों के विकास में ली जा रही विशेष रूचि और प्रयासों के चलते खेलों के क्षेत्र में मध्यप्रदेश को नित नई ऊंचाईयाँ मिल रही हैं। संचालक खेल और युवा कल्याण श्री उपेन्द्र जैन ने बताया कि खिलाड़ियों के बेहतर कैरियर के मद्देनजर खेल विभाग द्वारा विभिन्न खेल अकादमियां संचालित की जा रही हैं। अकादमी के माध्यम से उपलब्ध कराए जा रहे उच्च स्तरीय खेल संसाधनों और प्रशिक्षण के चलते प्रदेश के खिलाड़ी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलों का शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं और पदक जीतकर प्रदेश का गौरव बढ़ा रहे हैं। उन्होंने बताया कि महिला हॉकी खिलाड़ियों के लिए विभाग द्वारा ग्वालियर में हॉकी अकादमी संचालित की जा रही है जिसमें खिलाड़ियों को उच्च स्तरीय सुविधाएँ और प्रशिक्षण दिया जा रहा है। खेल मंत्री के प्रयासों से प्रदेश के खिलाड़ियों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिभा प्रदर्शन का अवसर मिल रहा है।
अकादमी ने किया सफलता का मार्ग प्रशस्त
भारतीय 'ए' टीम के लिए चयनित हुई हॉकी अकादमी की खिलाड़ी बेटियाँ वर्तमान में राजधानी स्थित साई में चल रहे राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर में प्रशिक्षण प्राप्त कर रही हैं। भारतीय टीम में नियुक्त कप्तान प्रीति दुबे सहित अन्य खिलाड़ियों ने अकादमी की खेल सुविधाओं की सराहना करते हुए बताया कि खेल मंत्री द्वारा खेलों में विशेष रूचि ली जा रही है और खिलाड़ियों को हर संभव खेल सुविधाएँ उपलब्ध कराई जा रही हैं। उन्होंने बताया कि अकादमी के माध्यम से मिल रहे उच्च स्तरीय प्रशिक्षण से ही आज हम इस मुकाम पर हैं। गौरतलब है कि महिला हॉकी अकादमी के मुख्य प्रशिक्षक श्री परमजीत सिंह के मार्गदर्शन में उक्त खिलाड़ी प्रशिक्षणरत हैं।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने दी नवरात्रि पर्व की बधाई


20 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने नवरात्रि पर्व के शुभारंभ पर सभी साधकों, उपासकों और आम नागरिकों को बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं। श्री चौहान ने संदेश में कहा है कि नवरात्र का पर्व आदि-शक्ति की उपासना से आध्यात्मिक शुद्धि, सुख-समृद्धि और शांति प्राप्त करने का पर्व है। इस दौरान पूरा वातावरण आध्यात्मिक ऊर्जा से भर जाता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि नवरात्रि भारतीय आध्यात्मिक संस्कृति और परंपरा का प्रतिनिधि पर्व है। भक्ति और उपासना का पर्व है। मन के विकारों से मुक्त होने का अवसर है। श्री चौहान ने इस अवसर पर प्रदेश के नागरिकों के कल्याण की कामना की है।


aaअधिकारियों एवं कर्मचारियों को भी दें आपदा प्रबंधन की ट्रेनिंग


20 September 2017

विभिन्न शासकीय विभागों के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को भी आपदा प्रबंधन की पार्ट-टाइम ट्रेनिंग दें। आपदा प्रबंधन से संबंधित एक अधिकारी प्रत्येक जिले में पदस्थ होना चाहिये। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने यह बात आपदा प्रबंधन संस्थान द्वारा संचालित पोस्ट-ग्रेजुएट डिप्लोमा कोर्स के प्रथम दीक्षांत समारोह में कही। श्री गुप्ता ने डिप्लोमा कोर्स कर चुके विद्यार्थियों को उपाधि एवं शील्ड प्रदान की। श्री गुप्ता ने कहा कि आपदा प्रबंधन संस्थान के पहले बैच की जिम्मेदारी है कि वह अपनी उपयोगिता सिद्ध करे। यही बैच आगे आने वाले बैच की राह भी प्रशस्त करेगा। उन्होंने कहा कि आपदा रोकने और आपदा के समय कम से कम नुकसान हो, इस संबंध में लोगों को जागरूक करना जरूरी है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में इस क्षेत्र में रोजगार के विशेष अवसर उपलब्ध होंगे। अपर मुख्य सचिव गृह श्री के.के. सिंह ने कहा कि डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट-2005 के बाद इस क्षेत्र में प्रभावी कार्यवाही शुरू हुई है। उन्होंने कहा कि पी.जी. डिप्लोमा विद्यार्थियों का बेहतर उपयोग डिजास्टर के क्षेत्र में होना चाहिये। आपदा प्रबंधन संस्थान के उपाध्यक्ष श्री नंदन दुबे ने कहा कि यह संस्थान 30 वर्ष से कार्य कर रहा है। पहली बार यह कोर्स शुरू किया गया है। इसमें 34 विद्यार्थी शामिल हुए थे। उन्होंने बताया कि पाठ्यक्रम में सभी प्रकार के डिजास्टर मैनेजमेंट को शामिल किया गया है।
वर्ष 2030 तक न्यूनतम करना है डिजास्टर से होने वाली हानि।
राज्य आपदा प्रबंधन सोसायटी के उपाध्यक्ष श्री सुरेन्द्र सिंह ने कहा कि इंस्टीट्यूट ने उपयोगी पाठ्यक्रम शुरू किया है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2030 तक पूरे विश्व में डिजास्टर से होने वाली हानि को न्यूनतम करने का लक्ष्य है। राज्य योजना मण्डल के प्रमुख सलाहकार श्री राजेन्द्र मिश्रा ने पाठ्यक्रम के संबंध में जानकारी दी। आपदा प्रबंधन संस्थान के कार्यपालक निदेशक श्री संजीव सिंह ने पाठ्यक्रम के संबंध में बताया। विद्यार्थियों ने भी अनुभव सुनाए। इस दौरान संस्था के संचालक श्री राकेश दुबे भी उपस्थित थे।


aaम.प्र. के विकास में भागीदार बनें प्रवासी भारतीय - मुख्यमंत्री श्री चौहान


19 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रवासी भारतीयों से आग्रह किया है कि फ्रेंड्स ऑफ एम.पी. से अधिक से अधिक संख्या में जुड़कर मध्यप्रदेश के विकास में भागीदार बनें। मुख्यमंत्री श्री चौहान वीडियो कान्फ्रेंसिंग से फ्रेंड्स ऑफ एम.पी.-यू.के. चैप्टर के लंदन में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि फ्रेंड्स ऑफ. एम.पी. एक ऐसा मंच है, जो मध्यप्रदेश के विकास का संकल्प लेकर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नए भारत के निर्माण के सपने को साकार बनाने में सहयोग देगा। मुख्यमंत्री ने प्रवासी भारतीयों को बताया कि नए भारत के निर्माण के लिए नए मध्यप्रदेश का रोड-मेप तैयार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इसके क्रियान्वयन में प्रवासी भारतीयों का सहयोग प्रगति की गति को कई गुना बढ़ाने में सहायक होगा। श्री चौहान ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग से प्रवासी भारतीयों को जानकारी दी कि भारत में हुए स्वच्छता सर्वेक्षण में मध्यप्रदेश के इंदौर और भोपाल शहर क्रमश: प्रथम और द्वितीय स्थान प्राप्त किया है। देश के 100 शहरों में मध्यप्रदेश के 22 शहर विभिन्न केटेगरी में पुरस्कृत किए गए हैं। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में उपस्थित सभी प्रवासी भारतीयों को नवरात्रि, दशहरा तथा दीपावली की शुभकामनाएँ दीं। इस अवसर पर प्रमुख सचिव जनसंपर्क श्री एस.के. मिश्रा ने भी वीडियो कान्फ्रेंसिंग से फ्रेंड्स ऑफ. एम.पी. के सदस्यों को बधाई दी तथा कहा कि सभी सक्रिय होकर मध्यप्रदेश को हर क्षेत्र में अव्वल बनाने में सहयोग प्रदान करें।


aaसूखे से निपटने कार्य-योजना का तत्परता से क्रियान्वयन करें : जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र


19 September 2017

जनसम्पर्क, जलसंसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने अपने प्रभार के रीवा जिले में सूखे की स्थिति के संबंध में आज अधिकारियों से विभागीय कार्य-योजना की जानकारी ली। डॉ. मिश्र ने निर्देश दिये कि सभी अधिकारी मुस्तैद रहें। सूखे से निपटने के लिए कार्य-योजना का क्रियान्वयन तत्परता से सुनिश्चित करें। जिले में नहर, तालाब, स्टापडैम आदि जल-स्रोतों को दुरूस्त करायें ताकि बाणसागर के पानी से उन्हें भरा जा सके और लोगों को जरूरत के हिसाब से पानी मिल सके। तालाबों को बचाने के सभी प्रयास हों। पीने के पानी के लिए हैंडपंप भी चालू हालत में रहें। नहरों को दुरूस्त किया जाए ताकि बाणसागर के पानी से किसानों को पलेवा और सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध हो सके। प्रभारी मंत्री डॉ. मिश्र ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि सूखे की स्थिति की कार्य-योजना में हैण्डपंपों में राइजर पाइप बढ़ाने, बिगड़े हैण्डपंपों को तत्काल सुधार की व्यवस्था सुनिश्चित करें। गांवों में बिगड़े हैण्डपंपों के सुधार के लिये हैण्डपंप मेकैनिक नियुक्त किये जाएं तथा सुधार के उपरांत उनके भुगतान की व्यवस्था पंचायत से सुनिश्चित की जाए। डॉ. मिश्र ने जिले में पशुओं के लिये पानी, चारा आदि की उपलब्धता के लिये कार्य-योजना बनाकर व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करें। इस अवसर पर विभागीय अधिकारियों ने सूखे की स्थिति के संबंध में कार्य-योजना का प्रस्तुतिकरण किया। बैठक में उपस्थित जनप्रतिनिधियों ने भी सुझाव दिये। बैठक में बताया कि रीवा जिले में चालू वर्षा काल में अभी तक 23 प्रतिशत कम बारिश हुई है। जिले में बोनी, फसल गिरदावरी आदि की विस्तृत जानकारी दी गई। बैठक में सांसद श्री जनार्दन मिश्र, विधायक श्री गिरीश गौतम, श्री सुंदरलाल तिवारी, सुश्री नीलम मिश्रा, श्री दिव्यराज सिंह, सुश्री शीला त्यागी, विधायक प्रतिनिधि, जनपद अध्यक्ष श्री के.पी. त्रिपाठी सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।
जिला खनिज प्रतिष्ठान न्यास समिति की बैठक
प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजनान्तर्गत जिला खनिज प्रतिष्ठान न्यास समिति की बैठक प्रभारी मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। बैठक में जिले के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में सभी आवश्यक व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करने पर सहमति व्यक्त की गई। डॉ. मिश्र ने निर्देश दिये कि इन केन्द्रों को बेहतर बनाने के लिए जिला खनिज प्रतिष्ठान न्यास से राशि उपलब्ध करायी जाए। इसके साथ ही सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में मर्चुरी स्थापित की जाए। मंत्री डॉ. मिश्र ने ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं के बेहतर इंतजाम सुनिश्चित करने के निर्देश दिये


aaपर्यावरण संरक्षण के लिये वातावरण स्वच्छ रखें : श्रीमती सिंधिया


19 September 2017

खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने आज अपने प्रभार के राजगढ़ जिले में पानी रोको अभियान तथा श्रमदान कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस अवसर पर श्रीमती सिंधिया ने लोगों से कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिये अपने आसपास का वातावरण स्वच्छ रखें। श्रीमती सिंधिया ने ग्राम दण्ड में श्रीमती गुलाब बाई के निवास में शौचालय बनाने के लिए श्रमदान किया। उन्होंने लोगों से कहा कि खुले में शौच के लिए नहीं जायें। अपने घरों में शौचालय बनवाएँ और उसका नियमित उपयोग करें तथा उसे स्वच्छ रखें। श्रीमती सिंधिया ने पानी रोको अभियान का शुभारंभ करते हुए कहा कि पानी को रोकना और उसकी बचत करना सबकी जिम्मेदारी है। सब मिलकर पानी रोको अभियान को जन-आंदोलन बनाएँ। कार्यक्रम के बाद श्रीमती सिंधिया ने होड माता मंदिर में दर्शन किए और श्रद्धालुओं की सुविधा के लिये मंदिर परिसर के समीप धर्मशाला बनवाने, मंदिर पहुँच मार्ग के निर्माण, यात्री प्रतिक्षालय के प्राक्कलन एवं प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए।


aaपब्लिक रिलेशन सोसायटी आफ इंडिया के भोपाल चैप्टर के वृक्षारोपण कार्यक्रम,
वृक्षारोपण कर दिया पर्यावरण बचाने का संदेश


19 September 2017

भोपालः आज बदलते पर्यावरण के करण जीवन बुरी तरह प्रभावित हो रही है। पर्यावरण को बेहतर बनाने में वृक्षों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। वृक्ष कार्बन डाई आक्साइड सोखते हैं और आक्सीजन हमारे लिए छोड़ते हैं, जो हमें जीवन प्रदान करती है। वृक्षों के इसी महत्व को देखते हुए पब्लिक रिलेशन सोसायटी आफ इंडिया के भोपाल चैप्टर और मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी की ओर से वृक्षारोपण किया गया। जहां पब्लिक रिलेशन सोसायटी आफ इंडिया के भोपाल चैप्टर और मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के सदस्यों ने आस्था परिसर बिजली नगर गोविंदपुरा में वृक्षारोपण किया। पौधरोपण से पहले आरएसआई के सभी सदस्यों को मध्यक्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के उप महाबंधक राजेश शर्मा ने विद्युत वितरण प्रक्रिया का डेमो डमी पावर स्टेशन पर ले जाकर दिया और विद्युत वितरण कंपनी के सभी 16 जिलों के कॉल सेन्टर की कार्यप्रणाली को समझाने के लिए
सेन्टर का भ्रमण करवाया।
पौधारोपण कार्यक्रम के अवसर पर सचिव डॉ. संजीव गुप्ता ने सभी सदस्यों द्वारा समाज हित में किये इस महत्वपूर्ण योगदान हेतु आभार व्यक्त किया। अरविन्द चतुर्वेदी ने कहा कि अधिक से अधिक पौधे लगाने के साथ नदियों को भी साफ रखना जरूरी है। संजय सीठा ने हवा में बढ़ते प्रदूषण पर चिन्ता व्यक्त की। कमल किषोर दुबे ने कहा कि पुराने समय से भारतीय संस्कृति में वृक्षों की पूजा की जाती रही है। अध्यक्ष पुष्पेन्द्र पाल सिंह ने कहा कि नमामि देवी नर्मदे जैसे जन अभियान से पर्यावरण को संरक्षित करने में आमजन की सहभामिता सुनिष्चित हुई है। हमकों अपने आस-पास के पर्यावरण को साफ एवं बचाने के लिए लगातार पौधारोपण के साथ ही जल स्त्रोतों के संरक्षण पर ध्यान देना होगा। पब्लिक रिलेषन सोसायटी ऑफ इंडिया के भोपाल चैप्टर द्वारा पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन गोविन्दपुरा के बिजली नगर स्थित  आस्था परिसर में किया गया। जिसमें संस्थापक अध्यक्ष अरविन्द चतुर्वेदी, पूर्व अध्यक्षगण संजय सीठा, विजय बोन्द्रिया एवं प्रकाष साकल्ले, वर्तमान अध्यक्ष पुष्पेन्द्र पाल सिंह , सचिव डॉ. संजीव गुप्ता, कोषाध्यक्ष मनोज द्विवेदी, वरिष्ठ सदस्य विष्णु खन्ना, जगदीष कौषल एवं कमल किषोर दुबे, महिला विन्ग की संयोजक उमा भार्गव, संयुक्त सचिव गोविन्द चौरसिया एवं योगेष पटेल, विजया पाठक, महेन्द्र पवार, शुभ तिवारी, रत्नदीप बांगरे, शैलेन्द्र ओझा, शोभा खन्ना, आर. के. शर्मा सहित बड़ी संख्या में पी.आर.एस.आई. सदस्यों ने छायादार पौधे लगाये।


aaप्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा मुख्यमंत्री श्री चौहान की नर्मदा सेवा यात्रा की सराहना


18 September 2017

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने गत दिवस गुजरात के दभोई में दुनिया के दूसरे सबसे बडे़ सरदार सरोवर बांध के उदघाटन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश की जनता की भूरी-भूरी सराहना की। श्री मोदी ने नर्मदा नदी के संरक्षण के लिये मुख्यमंत्री श्री चौहान की “नर्मदा सेवा यात्रा - नमामि देवि नर्मदे यात्रा” की मुक्त कंठ से प्रशंसा की। उन्होने इस काम के लिये मुख्यमंत्री को बधाई देते हुए कहा कि “नर्मदा मैया के लिये जंगलों को हरा-भरा रखने का अभियान भी मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने चलाया है। करीब आठ–नौ महीने पैदल यात्रा चली। करोड़ों वृक्ष लगाने का अभियान चला। इन करोड़ों वृक्षों के माध्यम से उन्होंने आने वाली शताब्दी तक नर्मदा का पानी कम न हो, इसका बीड़ा उठाया है।“ प्रधानमंत्री ने मध्‍यप्रदेश की जनता और मुख्‍यमंत्री को यह पवित्र कार्य करने के लिए हृदय से बधाई दी। उन्होने कहा कि नदी बचाने का काम शायद पहले इस देश में ऐसा नहीं हुआ। उन्होने कहा‍कि देश के कई संत, कई संस्‍थाएं नदी बचाने का अभियान चला रही हैं, त्‍याग-तपस्‍या के साथ चला रही हैं। पर्यावरण की रक्षा के सभी प्रयास अभिनंदन के पात्र हैं। श्री मोदी ने मध्यप्रदेश की जनता को बांध के निर्माण में सहयोग देने के लिये धन्यवाद दिया। उन्होने कहा कि “मैं आदरपूर्वक मध्‍यप्रदेश की जनता और मध्‍यप्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का धन्‍यवाद करना चाहता हूँ। उन्होने उन सभी आदिवासी भाइयों, बहनों को भी नमन किया जो परियोजना के लिये स्वयं आगे आए।


aaमध्यप्रदेश के कृषि क्षेत्र में आगामी 10-12 साल भी आगे रहने की उम्मीद


18 September 2017

मध्यप्रदेश ने कृषि क्षेत्र में अन्य राज्यों की अपेक्षा इतना अच्छा काम किया है कि अगले 10-12 वर्षो तक इसके अग्रणी रहने की पूरी संभावना है। मध्यप्रदेश ने ऊर्जा के क्षेत्र में भी उल्लेखनीय प्रगति की है। देश की ऊर्जा का 60 से 65 प्रतिशत उत्पादन अकेले मध्यप्रदेश में हो रहा है। प्रदेश को अकृषि क्षेत्र में भी तरक्की करनी चाहिये यह बात आज राष्ट्रीय नीति आयोग के सदस्य श्री रमेश चन्द ने मंत्रालय में सभी विभागध्यक्षों को संबोधित करते हुए कही। श्री रमेश चन्द ने प्रसन्नता जाहिर करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश ने न केवल प्रधानमंत्री के उद्देश्यों की पूर्ति की है, बल्कि यहाँ उल्लेखनीय नवाचार भी हो रहे हैं। राज्य नीति आयोग के उपाध्यक्ष श्री चेतन्य काश्यप, राष्ट्रीय नीति आयोग के सलाहकार श्री अनिल श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव वन एवं आर्थिक सांख्यिकी श्री दीपक खाण्डेकर और राज्य नीति आयोग के मुख्य सलाहकार श्री राजेंद्र मिश्रा भी मौजूद थे। श्री रमेश चन्द्र ने कहा कि राष्ट्रीय नीति आयोग द्वारा प्रदेशों में जा कर राष्ट्रीय योजना आयोग के स्थान पर गठित नीति आयोग की भूमिका को स्पष्ट करने के साथ राज्य द्वारा किन क्षेत्रों में सुधार किया जाना है, की भी जानकारी दी जा रही है। श्री चन्द्र ने कहा कि पहले योजना आयोग का काम बजट वितरण का भी था, जो अब नीति आयोग के रूप में '' थिंक टैंक'' के रूप में काम कर रहा है। इससे देश की गुणनात्मक प्रगति पर बेहतर ध्यान केन्द्रित हुआ है। नीति आयोग अब नेशनल इंस्टीटयूट फार ट्रांसफार्मिंग इण्डिया है। उन्होंने कहा कि योजना आयोग में योजना बनाने में पहले राज्यों की भूमिका नहीं होती थी। अब राज्य की केन्द्र के साथ 60:40, 50:50 आदि की भूमिका रहती है। राष्ट्रीय नीति आयोग का काम राज्यों के कार्यों का आकलन और निगरानी करते हुए उनकी क्षमता विकसित करने में सहयोग करना है। मध्यप्रदेश विकास दर में देश के सर्वश्रेष्ठ 7 राज्य में शामिल है। मध्यप्रदेश सरकार देश की पहली है जिसने केबिनेट में किसानों के उत्पादन मूल्य में नुकसान होने पर भरपाई का निर्णय लिया है। लेकिन संतुलित विकास के लिये मध्यप्रदेश को उत्पादकता पर ध्यान केन्द्रित करने की आवश्यकता है। सलाहकार श्री अनिल श्रीवास्तव ने पॉवर पाइंट प्रजेन्टेशन में राष्ट्रीय योजनाओं के क्रियान्वयन, स्वास्थ्य, शिक्षा आदि के क्षेत्र में मध्यप्रदेश की स्थिति की जानकारी देते हुए किन क्षेत्रों में अधिक ध्यान देना है, के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जिलों के बीच विकास के क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा होनी चाहिये। श्री श्रीवास्तव ने कहा कि अन्य राज्यों के मुकाबले शिशु लिंग अनुपात बेहतर है। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना, स्वच्छ भारत मिशन, ऊर्जा,उदय योजना, टीकाकरण, साक्षरता आदि के बारे में प्रजेन्टेशन दिया। प्रमुख सचिव कृषि कल्याण श्री राजेश राजौरा ने प्रदेश की भावान्तर योजना का प्रस्तुतिकरण देते हुए बताया कि योजना में 11 अक्टूबर तक 4 लाख किसानों को जोड़ा जायेगा। यह योजना देश में आदर्श योजना बनती जा रही है। केन्द्र सरकार फूड कार्पोरेशन ऑफ इण्डिया, नाफेड और उत्तप्रदेश, हरियाणा, राजस्थान आदि 10 राज्यों ने योजना की जानकारी ली है। आयोग के समक्ष स्वास्थ्य, शिक्षा और ऊर्जा विभाग के नवाचारों का भी पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन दिया गया।


aaराष्ट्रीय नीति आयोग ने की मध्यप्रदेश मॉडल की सराहना


18 September 2017

राष्ट्रीय नीति आयोग के सदस्य श्री रमेशचन्द और सलाहकार श्री अनिल श्रीवास्तव ने आज राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष श्री चेतन्य काश्यप से सौजन्य भेंट कर मध्यप्रदेश मॉडल की सराहना की। प्रमुख सलाहकार श्री राजेन्द्र मिश्रा, सलाहकार श्री पी.सी. बारस्कर और श्री रमेश श्रीवास्तव भी मौजूद थे। श्री रमेशचन्द ने कहा कि मध्यप्रदेश की नवाचार योजना को अन्य राज्यों में लागू करने के लिए प्रेरित किया जाएगा। उन्होंने यहाँ राष्ट्रीय नीति आयोग की तर्ज पर बनने वाले राज्य नीति आयोग, आउटपुट-आउटकम और कार्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (सीएसआर) की भी प्रशंसा की। राष्ट्रीय आयोग ने कहा दूसरे प्रदेशों की अपेक्षा मध्यप्रदेश के प्रगति सूचकांक बेहतर हैं। देश में सबसे अधिक प्रति व्यक्ति आय मध्यप्रदेश में बढ़ी है।


एक दिवसीय टेक्नोलॉजी मीट का आयोजन 22 सितम्बर को भोपाल में


18 September 2017

उद्योग आयुक्त म.प्र. भोपाल से प्राप्त निर्देशों के अनुसार ई.ई.पी.सी. इंडिया द्वारा भोपाल में एक दिवसीय टेक्नोलॉजी मीट का आयोजन 22 सितम्बर को किया जा रहा है। महाप्रबंधक जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र ने बताया कि जिले में औद्योगिक क्षेत्र इंजीनियरिंग की इकाईयां जो कि तकनीकी उन्नयन एवं प्रोडक्ट डेवलपमेंट करने के लिये इच्छुक है, वे संबंधित इकाई की जानकारी जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र में जानकारी प्रेषित कर उक्त कार्यशाला में भाग लेकर टेक्नोलॉजी मीट का लाभ ले सकते है।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान से नीति आयोग के सदस्य श्री रमेशचन्द्र की मुलाकात


18 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से आज यहाँ मंत्रालय में नीति आयोग के सदस्य श्री रमेश चन्द्र ने मुलाकात की। मुलाकात के दौरान उन्होंने राज्य सरकार की भावान्तर भुगतान योजना की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि यह योजना नीति आयोग की प्राथमिकताओं में है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसानों को अपनी उपज का उचित मूल्य दिलाने के लिये राज्य सरकार ने यह योजना लागू की है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह योजना सुनिश्चित करेगी कि किसानों को समर्थन मूल्य से कम मूल्य नहीं मिले। यदि बाजार मूल्य समर्थन मूल्य से कम होगा, तो अंतर की राशि किसान के खाते में जमा करने की पारदर्शी व्यवस्था इस योजना में की गई है। श्री चौहान ने बताया कि कृषि से होने वाली आय को दोगुना करने के लिये प्रदेश में कान्ट्रेक्ट फार्मिंग एक समाधान है, जो छोटे किसानों के लिये लाभकारी होगा। प्रदेश में इसे प्रोत्साहित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसान कर्ज माफी के बजाय उपज का उचित मूल्य चाहते हैं। प्रदेश में उचित मूल्य की प्रत्याशा में किसानों द्वारा भण्डारण करने पर अनुदान देने की व्यवस्था की गई है। किसानों की आय को दोगुना करने के लिये पशुपालन, मछली पालन, कृषि, वानिकी तथा अन्य गतिविधियों को कृषि से जोड़ा जा रहा है। नीति आयोग के सदस्य श्री रमेशचन्द्र ने कहा कि भावान्तर भुगतान योजना का फायदा सभी किसानों को मिलेगा, जबकि कर्ज-माफी का फायदा केवल पच्चीस प्रतिशत किसानों को मिलता है। उन्होंने कहा कि कृषि उत्पादन के क्षेत्र में मध्यप्रदेश ने कीर्तिमान स्थापित किये हैं। अब कृषि विपणन, कान्ट्रेक्ट फार्मिंग और पशुधन विकास, डेयरी उत्पादन के क्षेत्र में नवाचार करें और प्रदेश, देश का नेतृत्व करे। इस अवसर पर राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष श्री चेतन्य काश्यप, नीति आयोग के सलाहकार श्री अनिल श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव वन श्री दीपक खांडेकर, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिवद्वय श्री अशोक वर्णवाल और श्री एस.के. मिश्रा, मुख्यमंत्री के सचिव श्री विवेक अग्रवाल सहित अधिकारीगण उपस्थित थे।


aaकोलार क्षेत्र अब कहलाएगा श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर


18 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोलार क्षेत्र को श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर के नाम से जाना जाएगा। इसका व्यवस्थित विकास कर सर्वसुविधायुक्त अल्ट्रा मॉडर्न टाउनशिप बनाई जाएगी। श्री चौहान आज यहां कोलार में 156 करोड़ रूपये लागत के विकास कार्यों के शुभारंभ अवसर पर विशाल जन-समूह को संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान ने कहा कि श्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्म दिन 25 दिसंबर से डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर में नल-जल प्रदाय होने लगेगा। इस क्षेत्र में तहसील कार्यालय भी जल्दी शुरू किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय भवन का लोकार्पण किया और यहां बी.ए., बाटनी और एम.एस.सी. कक्षाएं शुरू करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि श्यामाप्रसाद मुखर्जी नगर के साथ ही बैरागढ़ क्षेत्र का भी विकास किया जाएगा। श्री चौहान ने इस अवसर पर भोपाल शहर के शासकीय महाविद्यालयों में पढ़ रहे विद्यार्थियों को स्‍मार्ट फोन प्रदान किये। उन्होंने प्रतीक स्वरूप किसानों को खसरे की नि:शुल्क नकल भी प्रदान की। युवाओं का आव्हान करते हुये मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नया मध्यप्रदेश बनाने का संकल्प लें। नौकरी मांगने वाले नहीं, नौकरी देने वाले बने। इसके लिये मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना, मुख्यमंत्री आर्थिक सहायता योजना, मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना जैसी योजनाओं का लाभ उठाने आगे आयें। श्री चौहान ने कहा कि युवाओं की जिम्मेदारी केवल पढ़ाई करना और आगे बढ़कर अच्छा नागरिक बनने की है। उनकी पढ़ाई में किसी भी प्रकार की बाधा नहीं आने दी जाएगी। प्रतिभाशाली बच्चों की शिक्षा का खर्चा सरकार उठाएगी। उन्होंने कहा कि युवाओं का भविष्य किसी भी तरह खराब नहीं होने देंगे। मुख्यमंत्री ने किसानों के लिये मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना, प्रतिभाशाली बच्चों के लिये मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना, गरीबों के लिये दीनदयाल रसोई जैसी अनूठी और नवाचारी योजनाओं का उल्लेख करते हुये कहा कि हर गरीब व्यक्ति के पास रहने के लिये अपना भूखण्ड अथवा मकान होगा। प्रदेश में अगले दो वर्षों में 15 लाख मकान बनाये जाएंगे।
“दिल से” कार्यक्रम में बेटियों से संवाद
श्री चौहान ने बेटियों से पढ़ाई करने और आगे बढ़ने का आव्हान करते हुये कहा कि वे जल्दी ही आकाशवाणी से “दिल से” कार्यक्रम में बहनों और बेटियों से संवाद करेंगे। उन्‍होंने इसके लिये बेटियों से सुझाव भी मांगे। श्री चौहान ने कहा कि बेटियों को स्थानीय निकायों में 50 प्रतिशत और सरकारी नौकरी में 33 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है। उन्होंने कहा कि बेटियों का भविष्य संवारे बिना समाज का विकास नहीं हो सकता। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर का कायाकल्प करने वाले विकास कार्यो की शुरूआत करने के लिये विधायक श्री रामेश्वर शर्मा की सराहना की। उन्होंने स्थानीय निवासियों से स्वच्छता सर्वेक्षण में भागीदारी कर भोपाल को स्वच्छता में पहले स्थान पर लाने का संकल्प दिलाया। श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत मिशन से लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता आई है और मानसिकता भी बदली है।
राजनीति का एक मात्र उद्देश्य है जन-सेवा
भोपाल के सांसद श्री आलोक संजर ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के अथक परिश्रम से आज मध्यप्रदेश सर्वाधिक तेज गति से प्रगति करने वाला राज्य बन गया है। अन्य राज्यों के लोग प्रदेश की अनूठी योजनाओं का अध्ययन करने आते हैं और उन्हें अपने यहां अपनाते हैं। श्री संजर ने कहा कि मुख्यमंत्री ने विकास और समृद्धि के लिये अनुकूल वातावरण तैयार किया है और यह साबित कर दिया है कि राजनीति का एक मात्र उद्देश्य जनसेवा है। विधायक श्री रामेश्वर शर्मा ने स्वागत भाषण में कहा कि कोलार क्षेत्र का बेतरतीब विकास हुआ, यहां खेतों में मकान बने। जल-मल निकासी की व्यवस्था नहीं थी। इस क्षेत्र के विद्यार्थियों के लिये कोई कॉलेज नहीं था और कई नागरिक सेवाओं की कमी थी। अब पूरा दृश्य बदल रहा है। उन्होंने 156 करोड़ रूपये के विकास कार्यों की शुरूआत को क्षेत्र के लिये अनुपम उपहार बताया। उन्होंने कहा कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर का विकास भोपाल शहर और प्रदेश के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जो बोलते हैं, उसे पूरा करते है और उसके बाद स्वयं निरीक्षण भी करते हैं। महापौर भोपाल श्री आलोक शर्मा ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर के निवासियों को विकास कार्यों की शुरूआत पर बधाई देते हुये कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश के लोगों के विकास और समृद्धि के लिये दिन रात मेहनत की है और मध्यप्रदेश का गौरव बढ़ाया है।
कोलार को मिली विकास की सौगात
मुख्यमंत्री ने कोलार क्षेत्र को आज कई महत्वपूर्ण विकास कार्यों की सौगात दी। उन्होने कोलार क्षेत्र के लिये 24 करोड़ रूपये लागत की विद्युतीकरण योजना का शिलान्यास किया। सीवेज समस्या के निदान के लिये 125 करोड़ रूपये की लागत से बनने वाले कोलार से सीवेज नेटवर्क तक योजना के कार्य का शुभारंभ किया। राजहर्ष क्षेत्र में 7.2 करोड़ रूपये की लागत से सर्वसुविधायुक्त कॉलेज शासकीय डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी स्नातकोत्तर महाविद्यालय का लोकार्पण किया।
कोलार का कायाकल्प
कोलार के लिये नया तहसील कार्यालय बन रहा है। पेयजल समस्या समाधान के लिये 52 करोड़ रूपये की केरवा पेयजल योजना का काम चल रहा है। बीस लाख लीटर की क्षमता वाली 5 टंकियों में से 4 टंकियों का कार्य लगभग पूरा हो चुका है। कोलार के सभी वार्डों में 159 कि.मी. में जल वितरण नलिकाएं बिछाने का काम बहुत तेजी से चल रहा है। अब तक 80 कि.मी. में नलिकाएं बिछायी जा चुकी है।केरवा डेम पर 2 लाख लीटर की क्षमता वाला वाटर प्यूरीफायर टेंक एवं केरवा में 35 फिट गहरा इंटक बनकर तैयार है। अमरनाथ कॉलोनी स्थित कलियासोत नदी पर 4.5 करोड़ रूपये से पुल का निर्माण जल्दी पूरा हो जाएगा। औद्योगिक नगर मंडीदीप के विभिन्न उद्योगों में कार्यरत कोलारवासियों को अब होशंगाबाद रोड़ पर लगने वाले जाम से निजात मिलने वाली है। गोल जोड़ से मंडीदीप तक लगभग 13 कि.मी. मार्ग का निर्माण किया जा रहा है। पांच करोड़ रूपये लागत से साढ़े सात मीटर चौड़ा यह मार्ग पूरी तरह सी.सी. होगा। इस अवसर पर विधायक श्री सुरेंद्रनाथ सिंह, भोपाल संभाग आयुक्त श्री अजात शत्रु, नगर निगम आयुक्त सुश्री प्रियंका दास, भोपाल कलेक्टर श्री सुदाम खाड़े, मेयर इन काउन्सिल के सदस्य और बड़ी संख्या में स्थानीय निवासी उपस्थित थे।


aaप्रधानमंत्री के जन्म-दिन पर मुख्यमंत्री ने किया श्रमदान


17 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के जन्म दिवस पर आज छतरपुर जिले की ग्राम पंचायत सूरजपुर के ग्राम कनेरी पहुँचकर हितग्राही गनपत आदिवासी के आवासी शौचालय के निर्माण के लिये श्रमदान किया और 'स्वच्छता ही सेवा'' का संदेश दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का जन्म-दिन प्रदेश में सेवा-दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्राम कनेरी में 'स्वच्छता ही सेवा'' और 'जल रोको'' अभियान की शुरूआत करते हुए कहा कि घर-घर में शौचालय होना बहुत जरूरी है। शौचालय नहीं होने से बीमारियाँ फैलती हैं। घर की मान-मर्यादा भंग होती है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि स्वच्छता अभियान चलाकर घर-घर शौचालय बनवाए जाएं। जन-प्रतिनिधि भी इस अभियान को सफल बनाने में अपना सहयोग करें। श्री चौहान ने लोगों से कहा कि अपने गाँव एवं घर को स्वच्छ रखें। श्री चौहान ने कहा कि छतरपुर जिले में इस वर्ष बारिश 50 प्रतिशत से भी कम हुई है। इस कारण सूखे का संकट संभव है। सूखे के इस संभावित संकट के निराकरण के लिये राज्य सरकार हर संभव सहायता करेगी। उन्होंने कार्यक्रम के प्रारंभ में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत निर्मित गनपत आदिवासी के घर के सामने शौचालय बनवाने के लिए भूमि पूजन किया और शौचालय का गड्ढा खोदकर श्रमदान किया। हितग्राही गनपत आदिवासी, हरी आदिवासी, हुलासी आदिवासी एवं जनकरानी के आवास का निरीक्षण कर हितग्राहियों से चर्चा की। श्री चौहान ने यहीं पौध-रोपण भी किया और 32 हितग्राहियों को प्रधानमंत्री आवास योजना की प्रोत्साहन राशि के चैक वितरित किए। मुख्यमंत्री ने राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के स्टॉल में पहुँचकर स्व-सहायता समूहों द्वारा निर्मित उत्पादों की जानकारी ली। कार्यक्रम में पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री श्रीमती ललिता यादव, विधायक कुंवर विक्रम सिंह, श्री मानवेन्द्र सिंह, श्री पुष्पेन्द्र नाथ पाठक, श्रीमती रेखा यादव, श्री आर.डी. प्रजापति, बुंदेलखण्ड विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष डॉ. रामकृष्ण कुसमरिया, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री राजेश प्रजापति, पूर्व विधायक श्री विजय बहादुर सिंह बुंदेला, श्री उमेश शुक्ला, पूर्व सांसद श्री जीतेन्द्र सिंह बुंदेला, नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती अर्चना सिंह, श्री घासीराम पटेल सहित अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग श्री राधेश्याम जुलानिया उपस्थित थे।


aaमध्यप्रदेश के सभी गाँव और शहर खुले में शौच से मुक्त किये जाएंगे


17 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज इंदौर में 'स्वच्छता ही सेवा'' अभियान के उपलक्ष्य में ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में आयोजित समारोह में कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण-2016 में इंदौर प्रथम स्थान पर आया है। इसके लिये इंदौर की जनता बधाई की पात्र है। मध्यप्रदेश शासन के लिये भी यह गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि देश में स्वच्छता में नंबर वन आना आसान नहीं है। इसलिये नम्बर वन बने रहने के सतत प्रयास किये जायें। श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के आह्वान पर पूरे देश में स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है। इसके सकारात्मक परिणाम आये हैं। वर्ष 2019 तक मध्यप्रदेश के सभी ग्रामों और शहरों को खुले में शौच से मुक्त करा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि स्वच्छता एक आंदोलन है। जनता की सोच में बदलाव लाकर जनता के सहयोग से ही यह आंदोलन सफल हो सकता है। श्री चौहान ने इंदौर शहर में स्वच्छता अभियान की सफलता पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण-2016 में देश के 100 चयनित शहरों में से 22 शहर मध्यप्रदेश के हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में शौचालय बन जाने से ही काम नहीं चलेगा, उसका उपयोग करना भी जरूरी है। मुख्यमंत्री ने प्रदेश में प्लास्टिक की समस्या पर ध्यान आकृष्ट करते हुए कहा कि प्लास्टिक से सर्वाधिक कचरा फैलता है और प्लास्टिक जल्दी नष्ट भी नहीं होता है। इसलिए प्लास्टिक के उपयोग पर प्रतिबंध लगाना जरूरी हो गया है। उन्होंने कहा कि इंदौर मध्यप्रदेश के विकास का इंजन है। उद्योग, व्यापार और साफ-सफाई सहित हर क्षेत्र में इंदौर नंबर वन रहा है। इंदौर में नरसीमुंजी, टीसीएस और इंफोसिस जैसी प्रतिष्ठित संस्थाएं आ गई हैं और अपना व्यापार-व्यवसाय फैला रही हैं। इस अवसर पर महापौर श्रीमती मालिनी गौड़ ने कहा कि इंदौर स्वच्छता सर्वेक्षण के सभी बिन्दुओं पर खरा उतरा है। नवंबर 2016 से डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन से इंदौर में साफ-सफाई विशेष रूप से परिलक्षित हुई है। इस अभियान में विद्यार्थियों, शिक्षकों, व्यापारियों, अधिकारियों, कर्मचारियों, समाजसेवी संगठनों आदि का भरपूर सहयोग मिल रहा है। उन्होंने बताया कि इंदौर में गीले और सूखे कचरे का अलग-अलग कलेक्शन किया जा रहा है। गीले कचरे से जैविक खाद बनाई जा रही है। औसतन रोज 50 टन कचरा इकट्ठा हो रहा है। गीले कचरे से आने वाले समय में जैविक खाद के अलावा मिथेन गैस भी इकट्ठा की जाएगी, जिससे नगरीय सेवा की बसें चलेंगी और बिजली का उत्पादन किया जाएगा। इसके अलावा परमाणु तकनीकी से स्लज कचरे से खाद बनाई जाएगी। पिछले डेढ़ वर्ष में विशेष साफ-सफाई अभियान से वायु प्रदूषण 50 प्रतिशत तक घट गया है। खान और सरस्वती नदी की सफाई का अभियान जारी है। खान नदी में गिरने वाले गंदे नालों की टेपिंग का कार्य तेजी से चल रहा है।
उत्कृष्ट कार्य के लिये सम्मान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर स्वच्छता के क्षेत्र में विशिष्ट योगदान के लिये समाजसेवियों, व्यापारी संगठनों और सरपंचों को सम्मानित किया गया। समारोह में हाउसिंग बोर्ड के अध्यक्ष श्री कृष्णमुरारी मोघे, इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री शंकर लालवानी, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कविता पाटीदार, विधायकगण सर्वश्री महेन्द्र हार्डिया, राजेश सोनकर, सुदर्शन गुप्ता, सुश्री उषा ठाकुर तथा अपर मुख्य सचिव श्री राधेश्याम जुलानिया, गणमान्य नागरिक, समाजसेवी और सरपंच सहित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे।


aaउद्योग मंत्री श्री शुक्ल ने शौचालय निर्माण के लिए किया श्रमदान


17 September 2017

उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने आज रीवा में 'स्वच्छता ही सेवा'' अभियान में ग्राम लक्ष्मणपुर लौआ में भी दुअसिया कोल के घर शौचालय निर्माण के लिए श्रमदान किया। जिले में आज जल रोको कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया। उद्योग मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी देश में गंदगी, गरीबी, भ्रष्टाचार, जातिवाद और आतंकवाद को खत्म करने के लिये कृत-संकल्पित हैं। उन्होंने आग्रह किया कि प्रधानमंत्री के इस अभियान को सफल बनाने के लिये संकल्पित होकर कार्य करें। श्री शुक्ल ने कहा कि इस तरह के प्रयास किए जायें जिनसे किसी भी गाँव में कोई भी व्यक्ति खुले में शौच की आदत को त्यागने के लिये प्रेरित हो। कार्यक्रम को सांसद श्री जनार्दन मिश्रा ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर सांसद श्री जनार्दन मिश्रा, उद्योग मंत्री श्री शुक्ल, महापौर श्रीमती ममता गुप्ता, एवं जिले के वरिष्ठ अधिकारी एवं जन-प्रतिनिधि सेवा दिवस के मौके पर रीवा के गाँधी स्मारक चिकित्सालय परिसर में सफाई अभियान में शामिल हुए। सेवा दिवस अभियान के मौके पर पं. दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा पर माल्यार्पण भी किया गया।


aaसाझा प्रयासों से शत-प्रतिशत स्वच्छ्ता का लक्ष्य प्राप्त करेंगे - केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर


17 September 2017

केन्द्रीय पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के जन्म-दिवस पर आज ग्वालियर में 'स्वच्छता ही सेवा'' कार्यक्रम में भाग लिया। इस अवसर पर नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह भी उपस्थित थी। इस अवसर पर लोगों ने स्वच्छता की शपथ भी ली। श्री तोमर ने इस अवसर पर कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता के संदेश के सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं। देश में स्वच्छ्ता का प्रतिशत लगातार बढ़ रहा है। पहले जहां स्वच्छता का प्रतिशत मात्र 39 था, जो अब बढ़ कर 67 हो गया है। उन्होंने कहा कि सरकार और समाज के साझा प्रयासों से इसे शत-प्रतिशत तक पहुंचाने का लक्ष्य है। केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर एवं नगरीय विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने इस अवसर पर घर-घर स्वच्छता का संदेश पहुँचाने के लिये स्वच्छता रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। मंत्रीद्वय ने इस मौके पर सामूहिक पौधरोपण कार्यक्रम में भाग लेकर विभिन्न प्रजातियों के पौधे रोपे। कार्यक्रम में महापौर श्री विवेक नारायन शेजवलकर, साडा अध्यक्ष श्री राकेश जादौन व नगर निगम सभापति श्री राकेश माहौर, राज्य महिला आयोग की सदस्य श्रीमती प्रमिला वाजपेयी, पूर्व मंत्री श्री ध्यानेन्द्र सिंह, श्री शैलेन्द्र बरूआ एवं श्री देवेश शर्मा ने झाड़ू लगाकर स्वच्छता अभियान से जुड़ने का संदेश दिया। शहर भर से स्वच्छता रैली के रूप में आये युवाओं व महिलाओं ने भी स्वच्छ्ता सेवा कार्यक्रम में हिस्सा लिया।


aaस्वच्छता अभियान से देश को मिलेगी गंदगी से मुक्ति


17 September 2017

वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान से देश के साथ मध्यप्रदेश को भी गंदगी से पूरी तरह से मुक्ति मिलेगी। उन्होंने नागरिकों से अभियान में जागरूकता के साथ सक्रिय रूप से जुड़ने का आग्रह किया। वित्त मंत्री आज भोपाल के पंचशील नगर में 'स्वच्छता ही सेवा'' अभियान में शामिल हुए। वित्त मंत्री ने कमजोर वर्ग के दिनेश चावरिया के मकान में ट्विन-पिट खोदने की शुरूआत की। वित्त मंत्री श्री मलैया ने कहा कि घर में शौचालय का निर्माण गंदगी से मुक्ति के लिये बेहद जरूरी है। सौ में से 75 बीमारियों की वजह गंदगी होती है। उन्होंने कहा कि स्वच्छता अभियान मध्यप्रदेश में जन-आंदोलन बन चुका है। घर की सफाई के साथ-साथ मोहल्ले की सफाई की तरफ भी नागरिकों को ध्यान देना होगा। समाज में महिलाओं की भागीदारी की चर्चा करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि कोई भी अच्छे काम को महिलाओं के सामूहिक प्रयास अच्छी दिशा दे सकते हैं। वित्त मंत्री ने बताया कि शौचालय निर्माण के लिये प्रत्येक हितग्राही को 13 हजार 600 रुपये दिए जा रहे हैं। जन-प्रतिनिधियों का दायित्व है कि वे इस राशि का सदुउपयोग सुनिश्चित करें। पंचशील नगर में इस अभियान के तहत 400 शौचालयों का निर्माण किया जा चुका है। वार्ड में 200 शौचालयों का निर्माण अक्टूबर माह के अंत तक कर दिया जाएगा। पंचशील नगर में नागरिकों के घरों में नर्मदा जल के 5000 कनेक्शन दिए जा चुके हैं। वार्ड में 2 वर्ष में 50 लाख की लागत से नागरिकों की सुविधा के लिए सी.सी. नाली निर्माण और 70 लाख की लागत से सी.सी. रोड का निर्माण किया गया है। सांसद निधि से 40 लाख रुपये की लागत से सामुदायिक भवन का निर्माण भी करवाया गया है। सार्वजनिक पार्क के निर्माण पर 10 लाख रुपये की राशि खर्च की गई है। वार्ड में विकास के करीब 3 करोड़ रुपये के काम करवाए जा चुके हैं।
बौद्ध विहार गये वित्त मंत्री
वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया 'स्वच्छता ही सेवा'' अभियान में शामिल होने के बाद श्री विजय पंच के अनुरोध पर लुमनी बौद्ध विहार भी गये। उन्होंने बौद्ध धर्मावलंबियों द्वारा किए गए कार्यों को देखा। उन्होंने कहा कि बौद्ध विहार के विकास के लिए राज्य सरकार की ओर से हर-संभव सहयोग दिया जाएगा।


aaराज्यपाल द्वारा "स्वच्छता ही सेवा" अभियान को सफल बनाने की अपील


15 September 2017

राज्यपाल श्री ओम प्रकाश कोहली ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश में 15 सितम्बर से 2 अक्टूबर, 2017 गांधी जयंती तक चलाये जा रहे 'स्वच्छता ही सेवा' अभियान को सफल बनाने में अपनी सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करें। श्री कोहली ने कहा है कि इस अभियान का मुख्य उद्देश्य पर्यावरण को प्रदूषण मुक्त बनाना है। राज्यपाल श्री कोहली ने कहा है कि 'स्वच्छता ही सेवा' अभियान के तहत शहरी और ग्रामीण आवासीय क्षेत्रों, व्यापारिक और औद्योगिक संस्थानों, राज्य और केन्द्र सरकार के कार्यालयों तथा निगम-मंडलों के कार्यालयों में विशेष रूप से साफ-सफाई की जाएगी। बाहर शौच करने वालों को समझाइश देकर रोकने का प्रयास किया जाएगा। श्री कोहली ने बताया कि महात्मा गांधी के स्वच्छता के सन्देश को साकार करने के लिए ही प्रधानमंत्री ने 'स्वच्छता ही सेवा' अभियान चलाने का निर्णय लिया है। राज्यपाल श्री कोहली ने स्कूलों,महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों में इस अभियान के तहत 15 सितम्बर से 2 अक्टूबर, 2017 तक साफ-सफाई के प्रति छात्र-छात्राओं और युवाओं में जागरूकता उत्पन्न करने के प्रयासों को जरूरी बताया है। उन्होंने कहा है कि इसके लिए इन संस्थाओं में निबंध प्रतियोगिता, पेंटिंग प्रतियोगिता और अन्य प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएं। राज्यपाल ने शासकीय कर्मचारियों, शिक्षकों और जन-प्रतिनिधियों से भी इस अभियान को सफल बनाने का आव्हान किया है।


aaशौचालय निर्माण के लिये श्रमदान करेंगे मुख्यमंत्री श्री चौहान


15 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वच्छता अभियान का आज शुभारंभ किया। उन्होंने भोपाल जिले के लिये स्वच्छता और जल रोकने के जन-जागृति रथों को मुख्यमंत्री निवास से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर बताया गया कि स्वच्छता अभियान के तहत चलित रथ प्रदेश के गांव-गांव, शहर-शहर में जल को रोकने और 'स्वच्छता ही सेवा' के संदेश को जन-संचार के आडियो-वीडियो माध्यम से जन-जन तक पहुंचाएंगे। इस अवसर पर महापौर श्री आलोक शर्मा भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के जन्म दिवस 17 सितंबर को मध्यप्रदेश में सेवा-दिवस के रूप में मनाया जाएगा। इस दिन स्वच्छता को प्राथमिकता देने के सेवा कार्य किये जाएंगे। स्वयं मुख्यमंत्री श्री चौहान ग्रामीण अंचल में ऐसे क्षेत्रों में जाएंगे, जहां पर अभी भी शौचालयों का पर्याप्त निर्माण नहीं हुआ है। श्री चौहान गांव के किसी ऐसे घर में भी जाएंगे, जहां पर शौचालय नहीं है। मुख्यमंत्री वहां शौचालय निर्माण के लिये श्रमदान करेंगे। मुख्यमंत्री ने बताया कि इस अभियान में मंत्री-परिषद के सदस्य भी शौचालय निर्माण के लिये श्रमदान करेंगे। उन्होंने कहा कि जनता को स्वच्छता और शौचालय निर्माण के प्रति संवेदनशील बनाने का यह कारगर प्रयास होगा क्योंकि जनता के सहयोग के बिना स्वच्छता अभियान की सफलता संभव नहीं है। श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा चलाया गया स्वच्छता अभियान जन-जन का अभियान बन गया है। मध्यप्रदेश भी इस अभियान में बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रहा है। उन्होंने बताया कि विगत दिनों हुए स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रदेश के इन्दौर और भोपाल शहर क्रमश: प्रथम एवं द्वितीय स्थान पर रहे। देश में कुल पुरस्कृत सौ नगरों में से 22 नगर मध्यप्रदेश के हैं। जिन क्षेत्रों में अपेक्षित परिणाम नहीं मिले हैं, उन क्षेत्रों में इस अभियान के अन्तर्गत 15 सितंबर से 2 अक्टूबर के बीच विशेष प्रयास किये जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर घर स्वच्छ हो, यह जरूरी है। इसीलिये महात्मा गांधी और पंडित दीनदयाल उपाध्याय जैसे महापुरूष भी स्वच्छता को सर्वमान्य बनाने के पक्षधर रहे।


aaओजोन क्षरण जारी रहा तो पृथ्वी का अस्तित्व खतरे में होगा


15 September 2017

विश्व में हो रहे विभिन्न कार्यों का ओजोन परत पर दुष्प्रभाव पड़ने से इसमें लगातार क्षरण, जहरीली गैसों का उत्सर्जन और पर्यावरण असन्तुलन हो रहा है। ओजोन परत में इसी तरह क्षरण जारी रहा तो पृथ्वी पर रहने वाले मनुष्य, जीव-जन्तु, वनस्पति का अस्तित्व ही खतरे में पड़ जाएगा। ओजोन परत सूर्य से पृथ्वी पर आने वाली हानिकारक अल्ट्रावॉयलट किरणों को रोकने के साथ ही सुरक्षा कवच का भी काम करती है। एप्को के कार्यपालन संचालक एवं प्रमुख सचिव श्री अनुपम राजन ने आज अन्तर्राष्ट्रीय ओजोन दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में यह जानकारी दी। एप्को ने अन्तर्राष्ट्रीय ओजोन दिवस पर आज भोपाल सहित प्रदेश के सभी जिलों में ओजोन परत पर आधारित प्रश्नोत्तरी, चित्रकला, निबंध आदि प्रतियोगिताएँ और रैली का आयोजन किया। श्री राजन ने कहा कि विभिन्न प्रतियोगिताओं के आयोजन का उददेश्य बच्चों को ओजोन परत क्षरण, कारण और निवारण, ग्रीन गैसों का उत्सर्जन आदि के बारे में जागरूक करते हुए इसे रोकने के उपायों की जानकारी देना है। उन्होंने बच्चों का आव्हान करते हुए कहा कि पूरे विश्व, देश और प्रदेश के जिलों में आज ओजोन परत को बचाने के लिये कार्यक्रम हो रहे हैं। इनका उददेश्य भावी पीढ़ी को बेहतर पर्यावरण और धरती देना है। श्री राजन ने बच्चों से कहा पिछले 50 वर्षों से धरती का तापमान लगातार बढ़ने के साथ पर्यावरण संतुलन बिगड़ रहा है। बच्चों ने प्रश्नोत्तरी में आज काफी अच्छे उत्तर दिये और जागरूकता का परिचय दिया। वे अपने घर, परिवार, समाज को भी पेड़-पौधे बचाने और लगाने, ध्वनि-जल प्रदूषण के खतरों के प्रति आगाह करें।
शा.मा.वि.अरेरा कॉलोनी को मिला प्रथम पुरस्कार
श्री राजन ने प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता के विजेता स्कूलों को पुरस्कृत भी किया। शासकीय माध्यमिक विद्यालय अरेरा कॉलोनी को प्रथम, ज्ञानदीप माध्यमिक विद्यालय को द्वितीय और शासकीय माध्यमिक विद्यालय कोटरा सुल्तानाबाद, शासकीय माध्यमिक विद्यालय एम.ए.सी.टी. और शासकीय माध्यमिक विद्यालय बोर्ड कॉलोनी को सांत्वना पुरस्कार और प्रमाण-पत्र दिया गया।


aaहिन्दी बोलने, लिखने और पढ़ने में गर्व होना चाहिए : मुख्यमंत्री श्री चौहान


14 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हिन्दी अत्यंत समृद्ध भाषा है। इसके प्रति संकीर्णता ठीक नहीं है। हिन्दी छोड़कर अंग्रेजी बोलना मानसिक गुलामी है। उन्होंने कहा कि हिन्दी बोलने, लिखने और पढ़ने में गर्व होना चाहिए। हिन्दी का मान-सम्मान बढ़ाने के लिये समाज को भी आगे आना होगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आज यहां समन्वय भवन में हिन्दी दिवस पर अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित हिन्दी दिवस कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान ने कहा कि निजी विश्वविद्यालयों को हिन्दी विभाग स्थापित करने के लिये निर्देशित किया जाएगा। प्रत्येक दो वर्ष में राज्य-स्तरीय हिन्दी सम्मेलन आयोजित करने की घोषणा करते हुये उन्होंने कहा कि आगामी दिसम्बर 16-17 में राज्य-स्तरीय हिन्दी सम्मलेन आयोजित किया जाएगा। इसमें हिन्दी को समृद्ध बनाने वाले विद्वानों, व्यक्तिओं और संस्थाओं को आमंत्रित किया जाएगा। श्री चौहान ने कहा कि स्वर्गीय श्री दुष्यंत कुमार त्यागी हिन्दी गजल के जनक थे। उनकी स्मृति में बने दुष्यंत कुमार संग्रहालय का निर्माण राज्य सरकार करेगी।
हिन्दी की शक्ति बताने चलायें अभियान
श्री चौहान ने कहा कि बाजारों में दुकानों पर नाम और सूचना पट्टिकाएं हिन्दी में लगाना अनिवार्य करने के लिये वैधानिक उपाय किये जाएंगे। हिन्दी की शक्ति, सामर्थ्य और क्षमता से समाज की नई पीढ़ी को अवगत कराने के लिये समाज के सहयोग से निरंतर अभियान चलाना पढ़ेगा।
हिन्दी के उपयोग से मिली सराहना
श्री चौहान ने अपनी विदेश यात्राओं का स्मरण करते हुये बताया की उन्होंने हर जगह हिन्दी में ही भाषण दिया और संवाद किया। उन्होंने कहा कि राष्ट्रभाषा का उपयोग करने से उनकी प्रतिष्ठा भी बढ़ी और सराहना भी मिली। उन्होने श्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा संयुक्त राष्ट्र संघ में हिन्दी में दिये भाषण का उल्लेख करते हुए कहा कि हिन्दी निरंतर आगे बढ़ रही है, लेकिन इसकी गरिमा कायम रखने के लिये हमेशा सजग रहना होगा। उन्होंने कहा कि सरकार किसी भी भाषा का विरोध नहीं करती, लेकिन हिन्दी की कीमत पर अंग्रेजी का उपयोग ठीक नहीं है। श्री चौहान ने हिन्दी के पाठ्यक्रमों को और ज्यादा समृद्ध बनाने की आवश्यकता बताई। अच्छी कविताएं, अच्छे गद्य और पद्य को सम्हाल कर रखने और प्रस्तुत करने पर जोर देते हुए कहा कि हिन्दी की स्वीकार्यता को बढ़ाने की आवश्यकता है। श्री चौहान ने कहा कि सभी विश्वविद्यालयों को हिन्दी दिवस मनाने के लिये एकत्र होना चाहिए। अगले साल से हिन्दी दिवस का आयोजन भव्य होगा और इसमें सभी विश्वविद्यालय शामिल होंगे।
इन्हें मिला सम्मान
मुख्यमंत्री ने साहित्यकारों एवं लेखकों को राष्ट्रीय मैथिलीशरण गुप्त सम्मान, राष्ट्रीय शरद जोशी सम्मान एवं हिन्दी भाषा सम्मानों से विभूषित किया। राष्ट्रीय मैथिलीशरण गुप्त सम्मान से श्रीमती मालती जोशी, डॉ. विश्वनाथ तिवारी एवं श्री कमल किशोर गोयनका को विभूषित किया गया। राष्ट्रीय शरद जोशी सम्मान से श्री गोपाल चतुर्वेदी, डॉ. सूर्यबाला लाल, श्री प्रेम जनमेजय और श्री नर्मदा प्रसाद उपाध्याय को सम्मानित किया गया। सम्मान के रूप में दो-दो लाख रूपये की राशि, सम्मान पट्टिका, शॉल-श्रीफल प्रदान किया गया। सूचना प्रौद्योगिकी सम्मान से माइक्रोसॉफ्ट इण्डिया, निर्मल वर्मा सम्मान से श्री तेजेन्द्र शर्मा, फादर कामिल बुल्के सम्मान से डॉ. हेमराज सुंदर, गुणाकर मुले सम्मान से श्री हरिमोहन और हिन्दी सेवा सम्मान से प्रो. ओकेन लेगो को सम्मानित किया गया। इस सम्मान में एक-एक लाख रुपये की राशि, सम्मान पट्टिका और शॉल-श्रीफल प्रदान किये गये। अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी विश्वविद्यालय के विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रामदेव भारद्वाज ने स्वागत भाषण दिया। कुलसचिव डॉ. एस.के. पारे ने विद्वान अतिथियों का स्वागत किया। भोपाल के सांसद श्री आलोक संजर, प्रमुख सचिव संस्कृति श्री मनोज श्रीवास्तव और बड़ी संख्या में हिन्दी प्रेमी गुणीजन उपस्थित थे।


aaअब ग्राम पंचायतें देंगी रेत उत्खनन की अनुमति


14 September 2017

मध्यप्रदेश में रेत खनन का कार्य अब ग्राम पंचायतों के माध्यम से करवाया जाएगा। ग्राम पंचायतें तय करेंगी कि उनकी ग्राम पंचायत में कहॉ-कहॉ और कितना खनन होना है। खनन की अनुमति ग्राम पंचायतें ही देंगी तथा प्राप्त रायल्टी भी ग्राम पंचायत के विकास कार्यों पर ही खर्च की जाएगी। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज रायसेन जिले के सिलवानी तहसील मुख्यालय पर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत आयोजित किसान महा-सम्मेलन में यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि इसके लिए विस्तृत नियम बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में खेती को लाभ का व्यवसाय बनाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। उत्पादन लागत घटाने के लिए लगातार कोशिशें की जा रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि 15 सितम्बर से प्रदेश के हर विकासखण्ड मुख्यालय पर संगोष्ठियाँ की जाएंगी। इन संगोष्ठियों में किसान, कृषि वैज्ञानिक और कृषि विभाग का अमला भाग लेगा। संगोष्ठी में तय होगा कि किस क्षेत्र की जमीन पर कौन सी फसल लेना चाहिए। उन्होंने बताया कि कृषि पर निर्भरता कम करने के लिए दुग्ध उत्पादन, कृषि वानिकी और खाद्य प्र-संस्करण जैसी गतिविधियों को प्रोत्साहित किया जायेगा। खाद्य प्र-संस्करण उद्योग लगाने के लिए किसानों को बैंकों के माध्यम से ऋण दिलाया जाएगा। श्री चौहान ने कहा कि किसानों की आय बढ़ाने में दूध उत्पादन का महत्वपूर्ण योगदान है। सरकार अब गरीब किसानों को पाँच दुधारू पशु मुहैया कराएगी। इन पशुओं के लिये तीन माह का पौष्टिक पशु-आहार भी दिया जाएगा। इससे गरीब किसानों को आय का अतिरिक्त स्त्रोत मिलेगा। श्री चौहान ने कहा कि 3 माह में अविवादित बँटवारा, सीमांकन और नामांतरण प्रकरणों के निपटारे के लिए प्रदेश में अभियान चलाया जा रहा है। नामांतरण के प्रपत्र घर-घर पहुँचाने की व्यवस्था की गई है। उन्होंने निर्देश दिए कि फसल कटाई प्रयोग सावधानी से कराये जायें ताकि किसानों को कम वर्षा से फसल खराब होने की स्थिति में नुकसान नहीं हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों के लाभ के लिये भावांतर भुगतान योजना शुरू की गई है। यदि किसान अपनी उपज बाजार भाव को देखते हुए कुछ समय बाद बेचना चाहते हैं, तो गोदाम में फसल रखने की स्थिति में गोदाम का किराया भी सरकार देगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महा-सम्मेलन में किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा खरीफ 2016 के दावा राशि के स्वीकृति पत्र वितरित किए। मुख्यमंत्री ने 19 करोड़ 94 लाख रूपए की लागत के 6 निर्माण कार्यों का शिलान्यास तथा 6 करोड़ 26 लाख रूपए लागत के 7 निर्माण कार्यों का लोकार्पण भी किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बेगमगंज में गरीबों के लिए 308 आवास बनाने और सिलवानी में सामुदायिक भवन बनाने का आश्वासन दिया। सम्मेलन में लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, उद्यानिकी राज्य मंत्री श्री सूर्यप्रकाश मीणा, विधायक श्री रामकिशन पटेल सहित अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaदमोह के नागरिकों को मिल सकेगा पर्याप्त पेयजल : वित्त मंत्री श्री मलैया


14 September 2017

वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया ने आज दमोह में 80 लाख रूपये लागत के निर्माण कार्यों का भूमि-पूजन करते हुए कहा कि दमोह में पेयजल की समस्या काफी लंबे समय से रही है। उन्होंने कहा कि अब दमोह शहर के नागरिकों को उनकी जरूरत के हिसाब से पर्याप्त पेयजल मिलेगा। श्री मलैया ने बताया कि 47 करोड़ रूपये की जुझारघाट परियोजना ने दमोह की तस्वीर बदल दी है। शहर में 27 करोड़ रूपये की लागत से पाइप लाईन बिछाने का कार्य जल्द पूरा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि शहर में सौंदर्यीकरण के कार्य भी प्राथमिकता से करवाये जा रहे हैं। नागरिकों की सुविधा के लिये पार्क बनवाये जा रहे हैं। कार्यक्रम में नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती मालती असाटी भी उपस्थित थीं।


aaदिव्यांग व्यक्तियों को भी प्रतिभा के प्रदर्शन के अवसर मिलना चहिये


14 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से आज दृष्टिबाधितार्थ सहायता ध्वज दिवस के अवसर पर दृष्टिबाधित छात्र देवांश, मोहन और गिरिराज ने मुख्यमंत्री निवास में भेंट की तथा उन्हें ध्वज लगाया। श्री चौहान ने दिव्यांग सेवा कार्य में संलग्न व्यक्तियों एवं संस्थाओं की सराहना करते हुए इस अवसर पर कहा कि दिव्यांग व्यक्तियों को भी समाज में अपनी प्रतिभा का बेहतर प्रदर्शन करने के अवसर मिलना चाहिये। श्री चौहान ने कहा कि दिव्यांग बच्चे भी हमारे बच्चे हैं। ईश्वर ने इन्हे भी अद्भुत और विशिष्ट प्रतिभा से परिपूर्ण बनाया है। उन्होंने कहा कि अब मानव समाज की यह अहम जिम्मेदारी है कि इन्हें कभी भी किसी भी प्रकार के अभाव का अनुभव नहीं होने दे। मुख्यमंत्री श्री चौहान से दिव्यांग छात्रों की भेंट के अवसर पर नेशनल एसोसिएशन फॉर दि ब्लाइंड के संरक्षक श्री अरूण गुर्टू, अध्यक्ष श्री एम.एस. खान, उपाध्यक्ष सुश्री अदिति असनानी, सचिव श्री उदय हथवलने, कोषाध्यक्ष श्री कमलेश जैमनी, स्वैच्छिक संगठन हील की सचिव श्रीमती आरती शर्मा एवं अन्य भी उपस्थित थे।


aaभारतीय शिक्षा नीति में बदलाव स्वाभाविक है- श्री दीपक जोशी


14 September 2017

भारतीय शिक्षा नीति में समय के साथ बदलाव होना स्वाभाविक है। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखना जरूरी है कि बदलाव से भारतीय संस्कृति की आत्मा पर कुठाराघात नहीं हो। तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने यह बात सरदार वल्लभ भाई पॉलीटेक्निक कॉलेज में 'भारतीय शिक्षा नीति में बदलाव की आवश्यकता' पर आयोजित संगोष्ठी में कही। श्री जोशी ने कहा कि हस्ताक्षर अब हिन्दी में करेंगे। श्री जोशी ने कहा कि राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय देश का पहला तकनीकी विश्वविद्यालय है, जिसने इंजीनियरिंग की परीक्षा हिन्दी में संचालित करने की शुरूआत की है। उन्होंने कहा कि मौलिक विचार हमेशा मातृभाषा में ही आते हैं। अत: मातृभाषा का हर स्तर पर सम्मान होना जरूरी है। भारतीय शिक्षा मंडल के राष्ट्रीय संगठन मंत्री श्री मुकुल कानिटकर ने कहा कि शिक्षा व्यवस्था को पूरी तरह से शिक्षकों के हाथ में सौंपना चाहिए। जब शिक्षक स्वयं पर गर्व करेंगे तभी समाज उनका सम्मान करेगा। शिक्षकों को एक-दूसरे का सम्मान करने की समझाईश देते हुए श्री कानिटकर ने कहा कि जापान के विकास का कारण वहाँ शिक्षकों का सम्मान होना है। उन्होंने कहा कि शिक्षा में 3- एच का सूत्र जरूरी है। हृदय (Heart), हाथ (Hand) और दिमाग (Head) का समन्वय होने पर ही बच्चा शिक्षित होगा। श्री कानिटकर ने कहा कि आई.आई.टी. जैसी कड़ी परीक्षा पास करके मेधावी विद्यार्थी विदेश में नौकरी करने चले जाते हैं। उनकी प्रतिभा का उपयोग देश में होना चाहिए। संगोष्ठी में आईसेक्ट विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. संतोष चौबे और पॉलीटेक्निक कॉलेज के प्राचार्य डॉ. आशीष डोंगरे ने भी विचार व्यक्त किये। संगोष्ठी में विद्यार्थियों के साथ संवाद भी हुआ। विद्यार्थियों की शंकाओं का समाधान भी किया गया।


aaभदभदा विश्राम घाट में 5 करोड़ रुपये के विकास कार्य होंगे


14 September 2017

भदभदा विश्राम घाट में 5 करोड़ रुपये से भी अधिक लागत के विभिन्न विकास कार्य किये जायेंगे। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता और महापौर श्री आलोक शर्मा ने आज विकास कार्यों का भूमि-पूजन किया। विश्राम घाट में गेट से लेकर बर्निंग शेड तक शेड का निर्माण, विश्राम घाट में स्थित तालाब के साइड में पाथ-वे एवं सीढ़ियां, 10 बर्निंग शेड, दो विद्युत शवदाह गृह, आधुनिक श्रृद्धांजलि भवन, पुस्तकालय, पार्किंग तथा नाले का विकास किया जायेगा। इसके साथ ही वीडियो काफ्रेंसिंग की व्यवस्था भी की जायेगी, जिससे विदेश में रह रहे परिजन भी इसके माध्यम से अंत्येष्ठि में शामिल हो सकें। राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने कहा कि नगर निगम क्षेत्र में शामिल गाँवों में भी शमशान घाट विकसित किये जायें। उन्होंने महापौर द्वारा किये जा रहे कार्यों की सराहना की। महापौर श्री शर्मा ने कहा कि शहर के सभी विश्राम घाटों का उन्नयन किया जायेगा। उन्होंने कहा कि जीवन का अंतिम सत्य विश्राम घाट ही है। श्री शर्मा ने कहा कि 50 लाख की आबादी के मान से विश्राम घाटों का विकास करने की योजना है। नगरपालिका निगम के अध्यक्ष डॉ. सुरजीत सिंह चौहान ने भी विचार व्यक्त किये। विश्राम घाट ट्रस्ट के अध्यक्ष श्री श्रीकांत भट्ट ने जरूरी सुविधाओं की ओर महापौर का ध्यान आकृष्ट किया। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaहिन्दी दिवस पर मुख्यमंत्री श्री चौहान विद्वानों को प्रतिष्ठा सम्मानों से अलंकृत करेंगे


13 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मध्यप्रदेश के साहित्य के क्षेत्र में स्थापित प्रतिष्ठा सम्मानों के अलंकरण समारोह के मुख्य अतिथि होंगे। समारोह में मुख्यमंत्री देश के मूर्धन्य साहित्यकारों एवं लेखकों को राष्ट्रीय मैथिलीशरण गुप्त सम्मान, राष्ट्रीय शरद जोशी सम्मान एवं हिन्दी भाषा सम्मानों से विभूषित करेंगे। समारोह की अध्यक्षता संस्कृति एवं पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा करेंगे। अलंकरण समारोह 14 सितम्बर की शाम 5.30 बजे समन्वय भवन में होगा। समारोह में राष्ट्रीय मैथिलीशरण गुप्त सम्मान से श्रीमती मालती जोशी, डॉ. विश्वनाथ तिवारी एवं श्री कमल किशोर गोयनका विभूषित होंगे। राष्ट्रीय शरद जोशी सम्मान से श्री गोपाल चतुर्वेदी, डॉ. सूर्यबाला लाल, श्री प्रेम जनमेजय और श्री नर्मदा प्रसाद उपाध्याय विभूषित होंगे। सम्मान के रूप में दो-दो लाख की राशि, सम्मान पट्टिका, शॉल-श्रीफल प्रदान किया जायेगा। इसी समारोह में विविध अनुषंगों में स्थापित हिन्दी भाषा सम्मानों में सूचना प्रौद्योगिकी सम्मान से माइक्रोसॉफ्ट इण्डिया, निर्मल वर्मा सम्मान से श्री तेजेन्द्र शर्मा, फादर कामिल बुल्के सम्मान से डॉ. हेमराज सुंदर, गुणाकर मुले सम्मान से श्री हरिमोहन और हिन्दी सेवा सम्मान से प्रो. ओकेन लेगो सम्मानित होंगे। इस सम्मान में एक-एक लाख रुपये की राशि, सम्मान पट्टिका और शॉल-श्रीफल प्रदान किये जायेंगे। समारोह में संस्कृति विभाग ने व्यंग्यकार स्व. श्री शरद जोशी की बेटी बानी एवं रिचा को भी आमंत्रित किया। वे समारोह में शामिल होने क्रमश: कर्नाटक एवं मुम्बई से भोपाल आ रही हैं।


aaचंदेरी में आम लोगों से रू-ब-रू हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान


13 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आज अशोकनगर जिले के चंदेरी में स्थानीय कार्यक्रम में शिरकत करने के साथ आम लोगों से मिले और उनकी समस्याएँ जानी। मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को समस्याओं के त्वरित निराकरण के निर्देश दिये। श्री चौहान ने जन-प्रतिनिधियों और नागरिकों से उनकी माँगों और सुझावों पर भी चर्चा की। इस दौरान ग्वालियर संभाग के प्रशासनिक अधिकारियों ने हेलीपेड पर मुख्यमंत्री का स्वागत किया।


aaराज्य मंत्री श्री सारंग ने शंकराचार्य नगर में किया 2 करोड़ से अधिक राशि के निर्माण कार्यों का भूमि-पूजन


13 September 2017

जन-संवाद पदयात्रा में तीसरे दिन मंगलवार को सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने शंकराचार्य नगर के वार्ड 36 में 2 करोड़ 29 लाख रुपए की लागत के सड़क और नाली निर्माण कार्य का भूमि-पूजन किया। इस अवसर पर महापौर श्री आलोक शर्मा मौजूद थे। उन्होंने कहा कि निर्माण कार्य तय समय-सीमा में पूरा करवाया जाएगा। राज्य मंत्री श्री सारंग ने कहा कि जन-संवाद पदयात्रा में जनता से सीधे रू-ब-रू होकर समस्याओं के निराकरण के साथ-साथ स्थानीय विकास कार्यों के संबंध में जनता से चर्चा कर रहे हैं। जनता की माँग और क्षेत्र की जरूरत के अनुसार विकास कार्य किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पदयात्रा में मिलने वाली समस्याओं और क्षेत्र में किए जाने वाले कार्यों को विश्वास एप में एन्ट्री कर त्वरित कार्यवाही हो रही है। उन्होंने कहा कि शंकराचार्य नगर की सभी आंतरिक सड़कें और नालियों का निर्माण करवाया जा रहा है। राज्य मंत्री श्री सारंग ने शंकराचार्य नगर में लोगों से घर-घर संपर्क किया। इस अवसर पर एमआईसी श्री मनोज चौबे, पार्षद श्रीमती प्रीति जैन और अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान रतलाम जिले के कालूखेड़ा पहुँचे


13 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने रतलाम जिले के ग्राम कालूखेड़ा पहुँचकर विधायक स्वर्गीय श्री महेंद्र सिंह कालूखेड़ा को श्रद्धा सुमन अर्पित किए। मुख्यमंत्री श्री चौहान हेलीकॉप्टर से प्रात: 10 बजे कालूखेड़ा पहुँचे। मुख्यमंत्री ने सीधे कालूखेड़ा गढ़ी पहुँचकर स्वर्गीय श्री कालूखेड़ा की पार्थिव देह पर पुष्पचक्र अर्पित किए और परिवारजनों को ढाँढस बँधाया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वर्गीय श्री कालूखेड़ा की अंतिम यात्रा में भाग लिया। इस मौके पर सांसद श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, पूर्व मुख्यमंत्री श्री दिग्विजय सिंह, विधायक मंदसौर श्री यशपाल सिंह सिसोदिया, विधायक रतलाम श्री चैतन्य काश्यप, जावरा विधायक श्री राजेंद्र पांडे, करेरा विधायक श्रीमती शकुंतला खटीक, डबरा विधायक श्रीमती इमरती देवी, पूर्व विधायक श्री राजेंद्र भारती, श्री तुलसी सिलावट, श्री विजेंद्र सिंह मालाहेड़ा, रतलाम महापौर डॉक्टर सुनीता यार्डे, पूर्व संसाद श्री अरुण यादव, प्रदेश के विभिन्न जिलों से आए जन-प्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक एवं बड़ी संख्या में क्षेत्रवासी उपस्थित थे। इस मौके पर उज्जैन संभाग के कमिश्नर श्री एमबी ओझा, एडीजीपी श्री वी मधुकुमार ,कलेक्टर रतलाम सुश्री तन्वी सुंद्रियाल, पुलिस अधीक्षक सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे। विधायक श्री महेंद्र सिंह कालूखेड़ा की अंतिम यात्रा उनके पैतृक निवास से रथ पर निकाली गई। स्वर्गीय श्री महेंद्र सिंह जी के भाई महिपाल सिंह जी, श्री कृष्ण कुमार सिंह जी, भतीजे अनिरुद्ध सिंह, श्री पराक्रम सिंह, पुत्री सुश्री गरिमा सिंह, सुश्री कनक सिंह एवं अन्य परिजन भी अंतिम यात्रा में शामिल थे।


aaज्ञान से बड़ी कोई पूँजी नहीं


13 September 2017

ज्ञान से बड़ी कोई पूँजी नहीं। इसे कोई आपसे छीन नहीं सकता है। ज्ञान बाँटने से बढ़ता है। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने यह बात वार्ड-46 के मेधावी विद्यार्थियों के सम्मान समारोह में कही। श्री गुप्ता ने 10वीं और 12वीं में 75 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को सम्मानित किया। उन्होंने शिक्षकों को भी शॉल-श्रीफल भेंट कर सम्मानित किया। श्री गुप्ता ने कहा कि परीक्षा पास करने के लिए तो 33 प्रतिशत ज्ञान चाहिए लेकिन पढ़ाने के लिए विषय का 100 प्रतिशत ज्ञान जरूरी है। उन्होंने कहा कि कुछ कॉलेजों में तो 100 प्रतिशत अंक प्राप्त करने वाले भी सभी विद्यार्थियों को प्रवेश नहीं मिलता है। उन्होंने कहा कि शिक्षकों का सम्मान करें और आगामी परीक्षाओं में और अधिक अंक लाने का प्रयास करें। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री ने कहा कि जीवन में वही शिक्षक याद रहते हैं जो हमारी कमियाँ बताकर उन्हें दूर करने के उपाय बताते हैं। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaराजस्व मंत्री ने काटजू और जे.पी. हास्पिटल में सुनी मरीजों की समस्याएँ


13 September 2017

राजस्व, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने काटजू और जे.पी. हास्पिटल में सुबह मरीजों की समस्याएँ सुनी। श्री गुप्ता ने मरीजों को संबंधित डाक्टर के पास भेजकर समुचित इलाज के निर्देश दिये। श्री गुप्ता ने बताया कि वे प्रत्येक सोमवार को ही सुबह 9:30 बजे काटजू हास्पिटल और 10 बजे जे.पी. हास्पिटल में मरीजों की समस्याएँ सुनेंगे। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता द्वारा ग्वाल मुहल्ला में नाला क्रासिंग का भूमि-पूजन


13 September 2017

राजस्व, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने वार्ड-24 स्थित ग्वाल मुहल्ला में नाला क्रासिंग और पेबिंग ब्लाक लगाने के लिए भूमि-पूजन किया। श्री गुप्ता ने कार्य समय-सीमा में पूरा करवाने के निर्देश दिये। उन्होंने रहवासियों को जन-कल्याणकरी योजनाओं की जानकारी भी दी। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaकालूखेड़ाजी का निधन प्रदेश की राजनीति के लिए अपूर्णीय क्षति : चौहान


13 September 2017

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमारसिंह चौहान ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मंत्री श्री महेन्द्रसिंह कालूखेड़ा के निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए कहा है कि श्री कालूखेड़ा ने अपने दल के लिए पूरी निष्ठा और ईमानदारी से काम किया। वे मध्यप्रदेश की राजनीति में सदैव सफल मंत्री और विधायक के रूप में जाने गए। उनके निधन से मध्यप्रदेश की राजनीति को गहरा धक्का लगा है। यह प्रदेश के लिए अपूर्णीय क्षति है। श्री चौहान ने श्री कालूखेड़ा के निधन पर ईश्वर से प्रार्थना की है कि वह उनकी आत्मा को शांति दे, तथा कालूखेड़ा परिवार को दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करें।


aaमध्यप्रदेश में संकल्प से सिद्धि के सभी आयामों को पूरा किया जायेगा


13 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नये भारत के निर्माण के लिये हम नया मध्यप्रदेश गढ़ने में कोई कसर नहीं रखेंगे। प्रदेश की जनता की सहभागिता से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के संकल्प से सिद्धि के सपने को साकार करेंगे। श्री चौहान आज यहाँ रविन्द्र भवन में 'संकल्प से सिद्धि - नया भारत हम करके रहेंगे' चित्र प्रदर्शनी का उदघाटन कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि संकल्प से सिद्धि के अंतर्गत शामिल सभी आयामों को मध्यप्रदेश में पूरा किया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश की धरती में किसी भी तरह का आतंकवाद नहीं पनपने दिया जायेगा। ग्रामीण और शहरी स्वच्छता का नया आयाम स्थापित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में वैभवशाली और समृद्धशाली भारत का निर्माण हो रहा है। उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि एक दिन भारत, भौतिकता की अग्नि में दग्ध विश्व को शाश्वत शांति के पथ का दिग्दर्शन करायेगा, दुनिया का मार्गदर्शन करेगा। श्री चौहान ने कहा कि भारत माता की आजादी के लिये सन् 1857 से लेकर 1947 तक अनवरत संघर्ष चला। हमें आजादी अंग्रेजों ने कोई चाँदी की तश्तरी में रखकर नहीं दी। इसके लिये एक तरफ महात्मा गांधी जी के नेतृत्व में अहिंसक आंदोलन चला वहीं दूसरी तरफ क्रांतिकारियों ने भारत भूमि को स्वतंत्र कराने में अपने प्राणों का बलिदान दिया। हम सब अपने-अपने कर्त्तव्यों को पूरी ईमानदारी से पूरा करते हुए नये भारत के निर्माण का संकल्प पूरा करेंगे। मुख्यमंत्री ने इसके लिये नागरिकों को संकल्प भी दिलाया। मुख्यमंत्री ने चित्र प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया। प्रदर्शनी भारत सरकार के सूचना प्रसारण मंत्रालय के डी.ए.वी.पी. प्रभाग और संसदीय कार्य विभाग द्वारा इंडियन ऑयल कार्पोरेशन के सहयोग से लगायी गयी। इसमें भारत शासन द्वारा प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में विभिन्न वर्गों के कल्याण और राष्ट्रोत्थान के प्रयासों, स्वाधीनता संग्राम के विभिन्न आंदोलनों एवं विकास के विभिन्‍न आयामों से संबंधित चित्रों को सुरूचिपूर्ण ढ़ंग से प्रदर्शित किया गया है। प्रदर्शनी 16 सितम्बर तक लगी रहेगी। कार्यक्रम में सांसद श्री आलोक संजर, क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी श्री पी.के. मोहंती एवं इंडियन ऑयल कार्पोरेशन के अधिकारी श्री विज्ञान कुमार आदि मौजूद थे।


aaशासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक शालाओं के लिए ड्रिकिंग वॉटर योजना की मंजूरी


12 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की अध्यक्षता में आज हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में शासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक शालाओं में स्थायी पेयजल स्त्रोत उपलब्ध करवाने के लिए ड्रिकिंग वॉटर (पेयजल सुविधा) योजना को मंजूरी दी गई। इसके लिए वर्ष 2017-18 से 2019-20 तक 44 करोड़ 65 लाख रुपए की स्वीकृति प्रदान की गई।
स्कूल शिक्षा के अन्य महत्वपूर्ण निर्णय
मंत्रि-परिषद ने 30 वर्ष की निरंतर सेवा के बाद सहायक शिक्षकों को तृतीय क्रमोन्न्त वेतनमान ग्रेड-पे 4200 तथा शिक्षकों को तृतीय क्रमोन्नत वेतनमान ग्रेड-पे 6600 देने का निर्णय लिया। यह व्यवस्था 1 जुलाई 2014 से प्रभावशील रहेगी। इस निर्णय से लगभग 30 हजार शिक्षक लाभान्वित होंगे। राज्य शासन द्वारा कर्मचारियों को सुनिश्चित कैरियर प्रोन्नत योजना लागू करने की नीति के तहत मंत्रि-परिषद ने यह निर्णय लिया। मंत्रि-परिषद ने प्रदेश में सभी शासकीय शालाओं में कक्षा एक से आठ में अध्ययनरत बच्चों को नि:शुल्क पाठ्य-पुस्तकें प्रदाय योजना में तीन वर्ष 2017-18 से 2019-20 में 38 करोड़ 50 लाख रुपए की मंजूरी दी। मंत्रि-परिषद ने बालिका छात्रावासों की सुरक्षा योजना में शिक्षक आवास गृह कक्ष निर्माण कार्यक्रम में वर्ष 2017-18 से 2019-20 तक 24 करोड़ 96 लाख रुपए व्यय करने की मंजूरी दी। मंत्रि-परिषद ने प्रदेश में लगभग 45 लाख अनारक्षित एवं अन्य पिछड़ा वर्ग के गरीबी रेखा के ऊपर के बालकों के लिए नि:शुल्क गणवेश प्रदाय योजना के तहत आगामी तीन वर्ष 2017-18 से 2019-20 में 180 करोड़ रुपए की स्वीकृति दी गयी। मंत्रि-परिषद ने साक्षर भारत योजना के संचालन एवं क्रियान्वयन के लिए वित्तीय वर्ष 2017 -18 से 2019-20 के लिए 205 करोड़ रुपए की सैद्धांतिक सहमति दी।
दो सिंचाई योजना के लिए 2032 करोड़ से अधिक की राशि
मंत्रि-परिषद ने गोंड वृहद सिंचाई परियोजना के लिए 1097 करोड़ 67 लाख रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति दी है। इस परियोजना से सिंगरौली के 82 ग्राम का 18080 हेक्टेयर और सीधी जिले के 65 ग्रामों का 9920 हेक्टेयर कुल 28 हजार हेक्टेयर क्षेत्र रबी एवं 6500 हेक्टेयर क्षेत्र खरीफ सिंचाई से लाभान्वित होगा। परियोजना से जिला सिंगरौली के देवसर विकासखंड के 178 ग्राम और सीधी जिले के मझौली विकासखंड के 40 ग्राम कुल 218 ग्राम की लगभग 3 लाख 13 हजार आबादी को पेयजल प्रदाय किया जा सकेगा। मंत्रि-परिषद ने बरगी व्यपवर्तन परियोजना की कमांड क्षेत्र विकास और जल प्रबंधन योजना की राशि 935 करोड़ एक लाख रुपए की स्वीकृति दी। परियोजना की वार्षिक सिंचाई क्षमता 3 लाख 76 हजार 515 हेक्टेयर है। परियोजना से जबलपुर जिले के 438 ग्राम, कटनी जिले के 127 ग्राम, सतना जिले के 855 ग्राम एवं रीवा जिले के 30 ग्राम इस तरह कुल 1450 ग्राम लाभान्वित होंगे।
लोकनायक जयप्रकाश नारायण सम्मान निधि में संशोधन
मंत्रि-परिषद ने लोकनायक जयप्रकाश नारायण (मीसा/डीआईआर राजनैतिक या सामाजिक कारणों से निरुद्ध व्यक्ति) सम्मान निधि 2008 में संशोधन करने का निर्णय लिया। संशोधन अनुसार ऐसे व्यक्ति जो मीसा/डीआईआर के अधीन राजनैतिक या सामाजिक कारणों से एक माह से कम कालावधि के लिए निरुद्ध रहे हों उन्हें 8000 रुपए प्रतिमाह तथा ऐसे व्यक्ति जो एक माह या एक माह से अधिक की कालावधि के लिए निरुद्ध रहे हों, उन्हें 25 हजार रुपए प्रतिमाह की दर से सम्मान निधि की पात्रता होगी। इन नियमों के मध्यप्रदेश राजपत्र में प्रकाशन होने की दिनांक से 30 नवंबर 2017 तक ऐसे पात्र व्यक्ति जो मीसा/डीआईआर के अधीन राजनैतिक या सामाजिक कारणों से एक माह से कम कालावधि के लिए निरुद्ध रहे हों, को आवेदन प्रस्तुत करना होगा।
स्वास्थ्य क्षेत्र के विस्तार के लिए 994 करोड़ से अधिक की राशि
मंत्रि-परिषद ने शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में अस्पताल और औषधालयों के भवन निर्माण एवं उन्नयन संबंधी योजना 2017-18 से 2019-20 तक निरंतर रखने की सैद्धांतिक सहमति दी। इसके लिए 994 करोड़ 39 लाख रुपए का अनुमोदन दिया गया। ग्रामीण क्षेत्रों में 410 करोड़ रुपए की स्वीकृति आगामी तीन वर्ष के लिए दी गयी। इसमें 16 ग्रामीण भवन विहीन स्वास्थ्य संस्था, 47 जीर्ण-शीर्ण सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, 88 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का उन्नयन और 7 स्वास्थ्य संस्थाओं में सुविधाओं का उन्नयन किया जायेगा। इसके अतिरिक्त 30 स्थान पर पोस्टमार्टम भवन, 18 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, 24 प्राथमिक स्वास्‍थ्य केंद्र और 13 उप स्वास्‍थ्‍य केंद्र के भवन भी बनाये जायेंगे। शहरी क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं एवं भवन उन्नयन के लिए 583 करोड़ 55 लाख रुपए की मंजूरी दी गई। इसमें 32 जिला चिकित्सालय एवं सिविल अस्पताल के भवन निर्माण/उन्नयन, 14 जिला अस्पतालों में मॉडयुलर ओटी, 112 जिला चिकित्सालय एवं सिविल अस्पताल में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, 15 जिला चिकित्सालयों के लेबर रूम को वातानुकूल कर उन्नयन और 31 जिला अस्पताल में निर्बाध बिजली सप्लाई के लिए हाईटेंशन कनेक्शन के कार्य होंगे।
मुख्यमंत्री स्थायी कृषि पंप कनेक्शन योजना में दो नए प्रावधान
मंत्रि-परिषद ने प्रदेश में स्थायी कृषि पंप कनेक्शन प्रदान करने के लिए लागू 'मुख्यमंत्री स्थायी कृषि पंप कनेक्शन योजना' में दो नए प्रावधान शामिल करने का निर्णय लिया। नए प्रावधान लागू होने से संयुक्त आवेदन करने पर एक ही अधोसंरचना के कनेक्शन दिए जाने की स्थिति में, 25 केव्हीए क्षमता के ट्रांसफार्मर के लिए संयुक्त आवेदित 20 हार्स पावर तक के भार के लिए, अधिकतम तीन किसानों को अलग-अलग अंश राशि देने की आवश्यकता नहीं होगी। अधिकतम क्षमता के आवेदन के आधार पर देय राशि इन आवेदकों के मध्य उनकी पंप की क्षमता के आधार पर अनुपातिक रूप से विभाजित हो जायेगी। इससे आवेदकों को कम अंश राशि के भुगतान पर स्थायी कनेक्शन प्राप्त होगा। अस्थायी कृषि पंप कनेक्शन का आवेदन करने वाले किसानों के लिए भी नया प्रावधान शामिल करते हुए उन्हें यह विकल्प दिया गया है कि यदि वे चाहें तो अस्थायी कृषि पंप कनेक्शन के स्थान पर इस योजना में निर्धारित अंश राशि एकमुश्त जमा कर फ्लेट रेट पर बिजली प्राप्त कर सकते हैं। अंश राशि जमा करने पर किसान को अस्थायी पंप कनेक्शन के लिए एनर्जी चार्ज आदि की राशि नहीं देना होगी। उक्त कनेक्शन पर स्थायी कृषि पंप कनेक्शन के समान किसान को फ्लेट रेट पर बिजली प्राप्त होगी। साथ ही फ्लेट रेट के प्रथम छमाही बिल का भुगतान भी अगले चक्र में करना होगा। इन प्रावधानों का लाभ लेकर किसान 5 हार्स पावर के पंप के लिए फ्लेट रेट पर 7000 रुपए प्रति हार्स पावर की दर से पूरे वर्ष के लिए बिजली प्राप्त कर सकेगा, जबकि उसे अस्थायी कृषि पंप कनेक्शन के लिए मात्र 3 महीने के लिए 13 हजार रुपए से अधिक की राशि का भुगतान करना होता है। इन कनेक्शनों की अधोसंरचना को अधिकतम छ: माह में स्थायी करने का दायित्व वितरण कंपनी का होगा। इन प्रावधानों के लागू होने से और अधिक किसान 'मुख्यमंत्री स्थायी कृषि पंप कनेक्शन योजना' में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित होंगे।


aaप्रदेश में एचआईवी प्रतिशत में आई उल्लेखनीय गिरावट


12 September 2017

राज्य एड्स नियंत्रण समिति के प्रयासों से प्रदेश में एचआईवी/एड्स प्रकरणों में उल्लेखनीय कमी आई है। वर्ष 2005 में एड्स के 11.45 प्रतिशत प्रकरण के मुकाबले वर्ष 2017 (जुलाई) में यह प्रतिशत घटकर मात्र 0.43 रह गया है, जो देश के औसत से भी कम है। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री रूस्तम सिंह ने यह बात आज एड्स नियंत्रण समिति द्वारा आयोजित अभियान 'ज्वाइन हैंड्स टू स्टॉप एड्स' मानव श्रंखला का हरी झंडी दिखा कर शुभारंभ करते हुए कही। स्वास्थ्य आयुक्त डॉ. पल्लवी जैन गोविल, मिशन संचालक राज्य एड्स नियंत्रण समिति श्री उमेश कुमार, संचालक डॉ. के. के. ठस्सू और ब्रॉन्ड एम्बेस्डर श्री राजीव वर्मा भी मौजूद थे। स्वास्थ्य मंत्री ने श्रंखला में भाग ले रहे छात्र-छात्राओं से कहा कि वे घर, परिवार और समाज में एचआईवी/एड्स के बारे में फैली हुई भ्राँति को दूर करने में मदद करें। यह छूत की बीमारी नहीं है। मरीज में गलत खून चढ़ने, प्रदूषित इंजेक्शन के इस्तेमाल और एड्स ग्रसित व्यक्ति से संबंध बनाने से ही फैलती है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के चिकित्सक खून चढ़ाने और इंजेक्शन लगाने में पूरी सावधानी बरत रहे हैं। इससे भी एड्स के मरीजों की संख्या में काफी कमी आई है। श्री सिंह ने हाल ही में टीकमगढ़ अस्पताल में महिला के साथ हुई घटना पर क्षोभ प्रकट करते हुए कहा कि संबंधित नर्सों को निलम्बित कर चिकित्सक को शो-काज नोटिस दिया गया है। उन्होंने कहा कि शासन की कोशिश है कि ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो। स्वास्थ्य मंत्री ने एक बार फिर लोगों से स्वाइन फ्लू के प्रति सर्तकता बरतने की अपील की। श्री सिंह ने कहा प्रदेश के अस्पतालों में स्वाइन फ्लू के इलाज से संबंधित उपकरणों और दवाइयों की पर्याप्त व्यवस्था है। राज्य- संभाग स्तर पर निरंतर दैनिक समीक्षा की जा रही है। स्वाइन फ्लू से बचाव ही उपचार है। अगर ऐहतियात बरता गया तो स्वाइन फ्लू जानलेवा नहीं है। प्रदेश में सैकड़ों मरीज ठीक हुए हैं। लेकिन यदि मरीज स्वाइन फ्लू के पूरी चपेट में आ जाने के बाद काफी विलम्ब से डाक्टर के पास पहुँचता है तो वह भी मदद करने में असमर्थ रहता है। स्वाइन फ्लू बिगड़ जाने पर फेफड़े काम करना बंद कर देते हैं और रोगी की मृत्यु हो जाती है। अत: लोग सर्दी, जुकाम, खाँसी, बुखार, तेज सिरदर्द और साँस लेने में परेशानी हो, तो चिकित्सक से अवश्य सलाह लें। राज्य शासन ने सरकारी अस्पतालों के अलावा प्रदेश के 66 निजी अस्पताल भी स्वाइन फ्लू उपचार के लिये चिन्हित किये हैं। संचालन संयुक्त संचालक राज्य एड्स नियंत्रण समिति श्रीमती सविता ठाकुर ने किया। मानव श्रंखला में लक्ष्य 2000 के विरुद्ध लगभग 4000 लोगों ने भाग लिया। इनमें एन.एस.एस., एन.सी.सी., विभिन्न विद्यालयों के छात्र-छात्राएँ, किन्नर, जादूगर, स्वैच्छिक संगठन, शासकीय विभाग और आम लोग शामिल हैं।


aaजल संसाधन मंत्री डॉ. मिश्र ने दिए किसानों को अधिकतम सिंचाई सुविधा उपलब्ध करवाने के निर्देश


12 September 2017

जल संसाधन, जनसंपर्क और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज जल संसाधन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियो से राज्य में अल्प वर्षा की स्थिति को देखते हुए किसानों को अधिकतम सिंचाई सुविधा उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। मंत्री डॉ. मिश्र ने मंत्रालय में आयोजित बैठक में राज्य में इस मानसून में अब तक हुई वर्षा, बांधों के जल-स्तर और विभिन्न योजनाओं से सिंचाई सुविधा संबंधी विस्तृत जानकारी प्राप्त की। जल संसाधन मंत्री डॉ. मिश्र ने निर्देश दिए कि निर्माणाधीन परियोजनाओं के कार्य भी समय-सीमा में पूर्ण करने के लिए तत्परता से कार्यवाही करें। मंत्री डॉ. मिश्र ने दतिया क्षेत्र में भी जल-स्त्रोतों के उपयोग और सिंचाई सहित पर्याप्त पेयजल प्रदाय सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। बैठक में प्रमुख सचिव जल संसाधन श्री पंकज अग्रवाल और प्रमुख अभियंता श्री राजीव सुकलिकर उपस्थित थे।


aaराजस्व मंत्री द्वारा वल्लभ नगर में सामुदायिक शौचालय का लोकार्पण


12 September 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता और महापौर श्री आलोक शर्मा ने वल्लभ नगर क्रमांक-1 में सामुदायिक शौचालय का लोकार्पण किया। श्री गुप्ता ने कहा कि घर-घर में शौचालय बनाये जा रहे हैं। जिन घरों में जगह नहीं है, उनके लिए सामुदायिक शौचालय भी बनाये जा रहे हैं। महापौर श्री शर्मा ने कहा कि अब किसी को भी शौच के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि सामुदायिक शौचालय में स्नानागार भी बनाए गए हैं। दिव्यागों के लिए अलग से शौचालय बनाया गया है। श्री शर्मा ने कहा कि सड़कों पर प्रकाश के लिए एलईडी लाइट लगाने पर विचार किया जा रहा है। इस दौरान जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया प्रधानमंत्री आवास योजना में देश के सबसे सुंदर आवास बनाने वाले हितग्राही और प्रदेश के एक लाखवें हितग्राही को सम्मानित


11 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज प्रधानमंत्री आवास योजना में देश के सबसे सुंदर आवास बनाने वाले हितग्राही और प्रदेश के एक लाखवें हितग्राही को सम्मानित किया। उन्होंने दोनों को बधाई देते हुए कहा कि ये अन्य हितग्राहियों के लिये प्रेरणा-स्त्रोत हैं। श्री चौहान ने गरीबों के हित की यह योजना शुरू करने के लिये प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का आभार व्यक्त किया। योजना में आवास बनाने में मध्यप्रदेश, देश में प्रथम स्थान पर है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज मुख्यमंत्री निवास पर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत प्रदेश के एक लाखवें हितग्राही दमोह जिले के ग्राम बुडेला निवासी श्री बल्लू धनीराम यादव तथा देश में सबसे सुंदर आवास बनाने वाले हितग्राही उमरिया जिले के ग्राम सलैया के श्री रामकृष्ण तिवारी को 11-11 हजार रूपये के पुरस्कार से सम्मानित किया। उन्होंने दोनों को उनके कार्य की सराहना करते हुए बधाई दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि ये इस बात की मिसाल है कि हितग्राही की मेहनत से बेहतर मकान बनाये जा सकते हैं। श्री चौहान ने कहा कि सरकार के गरीब कल्याण एजेंडे का सबसे प्रमुख बिन्दु गरीबों को आवास उपलब्ध करवाना है। इसमें प्रधानमंत्री आवास योजना की महती भूमिका है। उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि इस योजना में देश में गरीबों के सर्वाधिक मकान मध्यप्रदेश में बनाये गये हैं। उन्होंने कहा कि अक्टूबर अंत तक 3 लाख आवास तथा इस वर्ष के अंत तक 7 लाख आवास पूरे करने का लक्ष्य है। प्रदेश में अभी तक एक लाख 15 हजार 689 आवास पूरे किये जा चुके हैं। योजना में कुल 7 लाख 62 हजार 328 आवास स्वीकृत किये गये हैं। योजना में हितग्राही को एक लाख 20 हजार रूपये की सहायता राशि के अलावा शौचालय एवं मनरेगा के तहत 90 दिन की मजदूरी भी उपलब्ध करवायी जाती है। दोनों हितग्राही ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि पक्के मकान बन जाने से उनके परिवार को बड़ी सहूलियत हो गई है। इस मौके पर अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री आर.एस. जुलानिया और मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री एस.के. मिश्रा उपस्थित थे।


aaप्रदेश में निवेशकों की सुविधाओं का पूरा ख्याल रखा जाये


11 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से विभिन्न उद्योगों के प्रतिनिधियों ने मंत्रालय में आज भेंट की। इस अवसर पर उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल और सांसद श्री चिंतामन मालवीय भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में निवेशकों की आवश्यकताएँ और सुविधाओं का भरपूर ख्याल रखा जाये। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार उद्योगों की आवश्यकता के अनुरूप कुशल श्रम की आपूर्ति करने के लिए प्रयासरत है। सिंगापुर के सहयोग से ग्लोबल स्किल पार्क बन रहा है। उन्होंने वाणिज्य-उद्योग एवं तकनीकी शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि उद्योगों से उनकी प्रशिक्षित श्रम आवश्यकताओं की जानकारी लें। उसी अनुरूप मानव संसाधन की उपलब्धता के लिए तकनीकी शिक्षण संस्थाओं के साथ समन्वय करवायें। श्री चौहान को एल्टिस इंडस्ट्री प्राइवेट लिमिटेड, पीथमपुर के प्रवर्तक श्री मनोज कटारिया और श्री अनिल खासगीवाल ने बताया कि प्रदेश का औद्योगिक वातावरण निवेशकों के लिये उत्कृष्ट है। उद्योग स्थापना संबंधी व्यवस्थाएँ उत्कृष्ट कोटि की हैं। उन्होंने अपने औद्योगिक प्रस्ताव के अनुभव का उल्लेख करते हुए बताया कि प्रदेश में उन्हें औद्योगिक इकाई स्थापित करने के लिए बिना किसी भाग दौड़ के जितनी शीघ्रता से भूमि की उपलब्धता हुई है, वह उनके लिए अभूतपूर्व अनुभव है। उन्होंने इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों के लिए टेस्टिंग लैब और कुशल मानव संसाधन के लिए तकनीकी शिक्षा के पाठ्यक्रमों में आवश्यक संशोधन के सुझाव भी दिए। फेयर डील एक्सपोर्ट्स को-ऑपरेटिव सोसाइटी के अध्यक्ष श्री प्रदीप केड़िया, उपाध्यक्ष श्री राजेश जैन और श्री भगवान दास वैष्णव ने मुख्यमंत्री से मुलाकात कर बताया कि समिति के 166 सदस्यों द्वारा बुरहानपुर में 57 एकड़ में टेक्सटाइल औद्योगिक पार्क विकसित करवाया जा रहा है। बैठक में पार्क के लिये पहुँच मार्ग के लिये भूमि की उनकी आवश्यकता के परिप्रेक्ष्य में विनिमय द्वारा भूमि की उपलब्धता करवाने के सैद्धांतिक प्रस्ताव पर सहमति दी गई। मेसर्स व्ही.एस.एल. लिमिटेड के प्रबंध संचालक श्री व्ही.जी. कृष्ण प्रसाद ने बताया कि उनकी इकाई स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड का संयुक्त उपक्रम है। उनके द्वारा औद्योगिक क्षेत्र बांदका जिला उज्जैन में स्टील प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित की जा रही है। इकाई की जल संबंधी आवश्यकताओं में सहयोग की अपेक्षा करने पर मुख्यमंत्री ने उनकी परियोजना के लिये जल की उपलब्धता में अपेक्षित सहयोग के लिये अधिकारियों को निर्देशित किया। इस अवसर पर मेसर्स अम्बा शक्ति उद्योग लिमिटेड के चेयरमेन श्री कमल गोयल और डायरेक्टर श्री हेमंत गुप्ता ने भी भेंट की। बताया कि औद्योगिक क्षेत्र बानमोर, मुरैना में स्थापित इकाई की क्षमताओं को 50 प्रतिशत बढ़ा रहे हैं। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, अपर मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैस, प्रमुख सचिव उद्योग एवं वाणिज्य श्री मो. सुलेमान, प्रमुख सचिव सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग श्री व्ही.एल कांताराव, प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरुण पाण्डे, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल और श्री एस.के. मिश्रा भी मौजूद थे।


aaविद्यार्थी के फीस की चिंता अब पालक नहीं सरकार करेगी


11 September 2017

राजस्व, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा है कि विद्यार्थी के फीस की चिंता अब पालक नहीं सरकार करेगी। श्री गुप्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना में 12वीं में माध्यमिक शिक्षा मण्डल के स्कूलों से 75 प्रतिशत और सीबीएसई की स्कूलों में 85 प्रतिशत से अधिक अंकों से उत्तीर्ण होने वाले विद्यार्थियों की कॉलेजों की फीस सरकार देगी। उन्होंने सोमवार को वार्ड-26 के कक्षा 10वीं और 12वीं में 75 प्रतिशत या उससे अधिक अंक के साथ उत्तीर्ण मेधावी विद्यार्थियों को सम्मानित किया। श्री गुप्ता ने कहा कि विद्यार्थी क्लास-रूम में पढ़ाये जाने वाले पाठ के साथ ही शिक्षक के आचरण और हाव-भाव से भी सीखता है। उन्होंने कहा कि शिक्षकों के प्रति बच्चों के मन में विश्वास होना जरूरी है। उत्तीर्ण होने के लिए 33 प्रतिशत लेकिन पढ़ाने के लिए 100 प्रतिशत ज्ञान जरूरी है। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद से सौजन्य भेंट


9 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज नई दिल्ली में राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद से मुलाकात की। श्री कोविंद के राष्ट्रपति बनने के बाद मुख्यमंत्री श्री चौहान की यह पहली सौजन्य भेंट थी। मुख्यमंत्री ने राष्ट्रपति श्री कोविन्द से प्रदेश के विकास से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की और उन्हें भोपाल आने का निमंत्रण दिया। श्री चौहान ने राष्ट्रपति श्री कोविंद को कबीर प्राकट्य महोत्सव में आने का न्यौता दिया। श्री चौहान ने कहा कि उक्त समारोह उनकी सुविधा के अनुसार दिनांक व समय तय किया जायेगा। उन्होंने बताया कि इस समारोह में कबीर के दर्शन और साहित्य पर संगोष्ठियाँ और अन्य कार्यक्रम किये जाते हैं। राष्ट्रपति श्री कोविंद ने कार्यक्रम में आने का निमंत्रण स्वीकार किया।


aaकिसानों के राजस्व प्रकरणों के निराकरण से आएगी खुशहाली


9 September 2017

वाणिज्य, उद्योग तथा रोजगार, खनिज साधन एवं प्रवासी भारतीय मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा है कि आदिवासी किसानों एवं अन्य के राजस्व प्रकरणों का निराकरण राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि राजस्व प्रकरणों के निराकरण से किसानों के जीवन में खुशहाली आएगी। श्री शुक्ल शहडोल जिले के गोहपारू में आयोजित राजस्व शिविर में किसानों को खसरे का वितरण कर रहे थे। उद्योग मंत्री ने राजस्व शिविर में करीब दो हजार किसानों को खसरे का वितरण किया। श्री शुक्ल ने कहा कि शहडोल जिला आदिवासी बाहुल्य जिला है। उन्होंने कहा कि आदिवासी किसानों को नामंतरण,बंटवारा, सीमांकन, खसरे, खतौनी और बी-1 नकल के लिए उन्हें भटकना न पड़े, यह सुनिश्चित किया जाए। उद्योग मंत्री ने कहा कि शत-प्रतिशत राजस्व प्रकरणों के निराकरण के लिए अभियान चलाए जाए। साथ ही राजस्व न्यायालयों में सुनवाई कर लंबित प्रकरणों का त्वरित निराकरण किया जाए। उन्होंने कहा कि नामंतरण के अधिकारी ग्राम पंचायतों को दिए गए है। ग्राम पंचायतों का दायित्व है कि वे इस कार्य का निर्वहन पूरी जबावदारी के साथ करें। श्री शुक्ल ने कहा कि सभी सरपंचों और सचिवों का भी दायित्व है कि ग्राम सभाओं के अनुमोदन के आधार पर किसानों के अविवादित नामंतरण के प्रकरणों को समय-सीमा में‍निराकृत करवाये। श्री शुक्ल ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने लंबित राजस्व प्रकरणों के निराकरण को बहुत गंभीरता से लिया है। इसके‍लिए जरूरी है कि मैदानी राजस्व-कर्मी सभी प्रकार के प्रकरणों का निराकरण करवाने में अहम भूमिका निभायें।


aaसाक्षरता के क्षेत्र में मध्यप्रदेश राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा गया


8 September 2017

मध्यप्रदेश को शिक्षा के क्षेत्र में तीन राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। 51वें अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस के अवसर पर आज नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने वर्ष 2017 के लिए साक्षर भारत अवार्ड वितरित किये। इस अवसर पर केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर भी मौजूद थे। मानव संसाधन विकास मंत्रालय के तहत स्कूल शिक्षा एवं साक्षरता विभाग द्वारा वर्ष 2016-17 में साक्षर भारत योजना में सर्वश्रेष्ठ कार्य करने वाले राज्य, जिला और राज्य संसाधन केन्द्र के लिए मध्यप्रदेश को पुरस्कृत किया गया। राज्यों की श्रेणी में मध्यप्रदेश के साक्षरता मिशन भोपाल को प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर साक्षरता मिशन के संचालक श्री लोकेश कुमार जाटव, तत्कालीन अपर संचालक श्रीमती शीला दाहिमा और मिशन के संयोजक डॉ. राकेश दुबे ने पुरस्कार ग्रहण किया। जिला लोक शिक्षा समिति की श्रेणी में जिला टीकमगढ़ को सम्मानित किया गया। टीकमगढ़ जिला पंचायत के अध्यक्ष श्री पर्वतलाल अहिरवाल और जिला प्रौढ़ शिक्षा अधिकारी श्री आर.के. पस्तोर ने पुरस्कार ग्रहण किया। गैर सरकारी संगठनों के क्षेत्र में राज्य संसाधन केन्द्र इंदौर को पुरस्कृत किया गया। श्रीमती अंजलि अग्रवाल ने यह पुरस्कार ग्रहण किया। उल्लेखनीय है कि वर्ष 2016-17 में मध्यप्रदेश में 24 लाख 61 हजार से अधिक प्रौढ़ निरक्षरों को प्रशिक्षण के बाद साक्षरता परीक्षाओं में सफलता प्राप्त हुई है। प्रदेश के 31 सांसद आदर्श ग्रामों में लगभग 24 हजार प्रौढ़ निरक्षर नवसाक्षर बनकर सामने आये।


aaजन-भागीदारी से ही रचनात्मक कामों को मिलेगी सफलता


8 September 2017

वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया ने कहा है कि राज्य सरकार के विकास और रचनात्मक कामों को जन-भागीदारी और स्वेच्छिक संगठनों की मदद से ही सफल किया जा सकता है। इसके लिये उन्होंने मिलकर कार्य करने का आग्रह किया। वित्त मंत्री श्री मलैया गुरुवार को इंदौर में स्वेच्छिक संगठनों के जिला-स्तरीय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में विधायक श्री महेन्द्र हार्डिया भी मौजूद थे। इंदौर के स्वच्छता कार्यक्रम की चर्चा करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि इंदौर को स्वच्छता के मामले में देश में नम्बर-1 स्थान दिलाने में जन-भागीदारी का महत्वपूर्ण योगदान है। जन-अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डे ने बताया कि प्रत्येक नागरिक को जागरूक कर समाज से गरीबी, गंदगी, भ्रष्टाचार, जातिवाद, सम्प्रदायवाद और आतंकवाद जैसी बुराइयों से छुटकारा दिलाया जा सकता है। कार्यक्रम में संकल्प से सिद्धि अभियान की रूपरेखा के बारे में जानकारी दी गई। वित्त मंत्री श्री मलैया ने कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को वर्ष 2022 तक नए भारत के निर्माण में सक्रिय सहयोग करने का संकल्प दिलाया।


aaमेधावी विद्यार्थी योजना का लाभ पूर्व वर्षों में बारहवीं उत्तीर्ण विद्यार्थियों को भी मिलेगा


8 September 2017

मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना का लाभ इस वर्ष चिन्हित शैक्षणिक संस्थाओं में प्रवेश लेने वाले वे विद्यार्थी भी ले सकेंगे, जिन्होंने 12वीं परीक्षा पूर्व के वर्षों में 75 प्रतिशत से अधिक अंकों से उत्तीर्ण की है। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ बरकतउल्ला विश्वविद्यालय के ज्ञान-विज्ञान भवन में आयोजित यूथ समिट को संबोधित कर रहे थे। इंडिया माइंड रॉक यूथ समिट का आयोजन इंडिया टुडे द्वारा किया गया था। कार्यक्रम में सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग, विधायक जयवर्धन सिंह, सरपंच सुश्री भक्ति शर्मा एवं बड़ी संख्या में युवा उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने युवाओं का आव्हान किया कि असाधारण, सफल और सार्थक जीवन को लक्ष्य बनाएँ। रोडमैप तैयार करें। कठोर परिश्रम करें। ऊँचा सोचें। व्यक्ति जैसा सोचता है, वैसा ही बन जाता है। युवा ठान ले तो कुछ भी असंभव नहीं है। जरूरत क्षमता के स्वाभाविक प्रगटीकरण की है। अंधानुकरण उचित नहीं है। प्रदेश में युवाओं के लिये अनंत संभावनाएँ है। नये निवेश से रोजगार के नये अवसर सृजित हो रहे हैं। स्व-रोजगार के भी भरपूर अवसर है। खाद्य प्र-संस्करण इकाईयाँ पंचायतवार लगाई जा सकती है। सरकार की गारंटी पर पाँच वर्ष के लिये 5 प्रतिशत ब्याज और 15 प्रतिशत ऋण सब्सिडी के साथ वित्तीय सहायता की योजनाएँ संचालित है। महिलाओं के लिये ब्याज सब्सिडी 6 प्रतिशत का प्रावधान है। सरकार ने इस वर्ष 7.5 लाख युवाओं को रोजगार और स्व-रोजगार में स्थापित करवाने का लक्ष्य रखा है। प्रयास है कि युवा रोजगार देने वाले बने। राज्य की धरती से युवा बड़े उद्योगपति बनकर निकलें। युवाओं के सपने अभावों में मरे नहीं सरकार का यह प्रयास है। नि:शुल्क शिक्षा, गणवेश, विद्यालय जाने के लिए साईकिल, अनुसूचित जाति, जनजाति, अल्पसंख्य, अन्य पिछड़ा वर्ग के साथ ही सामान्य वर्ग के गरीब बच्चों को भी छात्रवृत्ति मिलती है। श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी का न्यू इंडिया युवा बनाएंगे। उनके नवाचारों, उद्यमिता प्रयासों को सरकार का पूरा सहयोग मिलेगा। युवाओं का आव्हान किया कि रचनात्मक कार्यों से जुड़े। पौधरोपण, नदी जल संरक्षण, पर्यावरण चेतना, शिक्षा की गुणवत्ता आदि का कोई भी एक कार्य अवश्य करें। उन्होंने स्वयं 15 दिवस में एक बार शिक्षण कार्य करने की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि प्रदेश-देश के विकास का इंजन बन रहा है, जिसकी इस वर्ष अनुमानित कृषि विकास दर 29% है। विकास दर 8 वर्षों से दो अंकों में है। स्वच्छता अभियान के स्वच्छ 100 शहरों में 22 राज्य के है। प्रथम इन्दौर और द्वितीय भोपाल है।
मुख्यमंत्री प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम में शामिल हुए
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम में पूछे गये विभिन्न प्रश्नों के उत्तर में बताया कि कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता है। समाज की यह सोच पूर्णत: अनुचित है कि बड़े पद पर बैठे व्यक्ति की संतानें भी बड़े काम करें। उन्होंने बताया कि प्रदेश के युवाओं की उद्यमिता बढ़ाने के प्रयास तेजी से हो रहे हैं। युवा उद्यमियों के उत्पादों की प्रदर्शनी लगाई जाती है। उनके अनुभव जाने जाते हैं। प्रसन्नता की बात है कि 90 से 95 प्रतिशत उद्यमी सफल हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि इंजीनियर की आवश्यकता से अधिक आपूर्ति के कारण कॉलेजों में सीटें खाली रह रही है। वैकल्पिक व्यवसाय और स्व-रोजगार के नये अवसर निर्मित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों की कमी की समस्या समाधान के लिये अगले वर्ष 7 नये शासकीय मेडिकल कॉलेज खुलवाये जा रहे हैं। चिकित्सकों पर व्यावसायिक प्रतिबंधों को कम करने और सेवा शर्तों को सुधारा जा रहा है। चिकित्सकों का मुख्यालय नगर बनाकर, उन्हें पैरामेडिकल स्टॉफ के साथ ग्रामीण अंचल में भेजने की व्यवस्था भी की जा रही है। मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना के लाभान्वित डॉक्टरों पर तीन वर्ष राज्य के ग्रामीण अंचल में सेवा की बाध्यता रखी गई है। उन्होंने बताया कि दिल से कार्यक्रम राज्य के विभिन्न वर्गों के साथ दिल की बात सीधे दिल से करने का प्रयास है। दिल की बात दिल और दिमाग पर सीधा असर डालती है। इंडिया टुडे के ग्रुप एडीटोरियल एडीटर श्री राज चेंगप्पा ने आयोजन की रूपरेखा पर प्रकाश डालते हुए बताया कि देश में तेजी प्रगति करने वाला मध्यप्रदेश राज्य है। उन्होंने युवाओं के साथ प्रश्नोत्तरी के रूप में संवाद करते हुए मुख्यमंत्री के राजनैतिक जीवन की प्रमुख घटनाओं का जिक्र किया। वेल्लोर इंस्टीटूयट ऑफ टेक्नोलॉजी के चांसलर श्री विश्वनाथन ने मध्यप्रदेश को उत्तरी भारत में सर्वश्रेष्ठ शहर, राज्य और मुख्यमंत्री वाला प्रदेश बताया। कार्यक्रम के अंत में मुख्यमंत्री को स्मृति चिन्ह भेंट किया गया। चयनित युवा प्रतिभागियों को मुख्यमंत्री द्वारा हस्ताक्षरित टी शर्ट प्रदान की गई है।


aaउद्योग मंत्री श्री शुक्ल द्वारा शहडोल में निर्माणाधीन भवनों का निरीक्षण


8 September 2017

उद्योग मंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल ने शहडोल जिले के नबलपुर में निर्माणाधीन शंभूनाथ विश्वविद्यालय भवन, छात्रावास भवनों, एकेडमिक भवनों, ग्राम चांपा में निर्माणाधीन मेडिकल कालेज भवन एवं 500 सीटर चिकित्सालय भवन का निरीक्षण किया। उन्होंने निर्माण विभागों के इंजीनियरों से कार्य की प्रगति की जानकारी ली और अगस्त 2018 तक निर्माण कार्य को पूर्ण कराने के निर्देश दिये। मंत्री श्री शुक्ल ने कहा कि शंभूनाथ विश्वविद्यालय भवन के निर्माण कार्य की हर दो माह में समीक्षा और अवलोकन करेंगें। उन्होंने निर्देश दिये कि कार्य को अगस्त माह तक पूर्ण करने के लिये मजदूरों की संख्या बढ़ायें, संसाधन बढ़ायें। मुख्य मार्ग से विश्वविद्यालय तक पहुंच मार्ग के निर्माण के लिए प्राक्कल प्रस्तुत करें। श्री शुक्ल ने ग्राम चांपा में निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज भवन का भी निरीक्षण किया और निर्माण कार्य मार्च 2018 तक पूर्ण करने की हिदायत दी। इस अवसर पर जानकारी दी गई कि लगभग 43 एकड़ क्षेत्र में मेडिकल कॉलेज बनाया जा रहा है। इसमें मरीजों के लिये 500 बिस्तर का अस्पताल होगा। मेडिकल छात्रों के लिये एकेडमिक भवन के साथ-साथ 100 सीटर छात्रावास भवन तथा स्टॉफ रूम भी होगा। श्री शुक्ल ने ग्राम छतवई में निर्माणाधीन इंजीनियरिंग कॉलेज भवन का भी निरीक्षण किया तथा अगस्त 2018 तक निर्माण कार्य पूर्ण कराने के निर्देश दिए।


aaमुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार एवं मुख्यमंत्री बाल श्रवण उपचार योजना बच्चों के लिये संजीवनी


8 September 2017

मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना और मुख्यमंत्री बाल श्रवण उपचार योजना प्रदेश में बच्चों को नया जीवन देने में संजीवनी प्रमाणित हो रही हैं। स्वास्थ्य विभाग ने जिलों में शीघ्र हस्तक्षेप केन्द्र के माध्यम से इन योजनान्तर्गत हृदय एवं श्रवण की समस्याओं से जूझ रहे बच्चों तक पहुंचकर उन्हें लाभान्वित करने का बीड़ा उठाया है।
मास्टर अथर्व को हृदय रोग और श्रवण समस्या से मिली मुक्ति
उज्जैन के मास्टर अथर्व भावसार को मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से पैदायशी हृदय रोग समस्या से निजात मिली है। मास्टर अथर्व ने स्वस्थ होकर 19 दिसम्बर 2016 को अपना पहला जन्म-दिन मनाया है। इसके बाद 2 जुलाई 2017 को मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से श्रवण समस्या से भी पूर्णत: मुक्त हो गये हैं मास्टर अथर्व भावसार। मास्टर अथर्व भावसार को जन्म-दिन 19 दिसम्बर 2015 से ही हृदय में सामान्य रक्त संचार और श्रवण की समस्या से जूझना पड़ा। जन्म के समय अथर्व की रोने की आवाज सुनाई न देने पर माता-पिता के चेहरे पर चिंता की लकीरें उभर आई थीं। परेशानियां उस समय और बढ़ गयीं जब जन्म के 5 दिन बाद अथर्व का शरीर नीला पड़ने लगा। निजी चिकित्सालय में चिन्हांकित करने पर पता लगा कि अथर्व के हृदय को सामान्य रूप से रक्त का संचार नहीं हो रहा था। परिवार द्वारा स्वयं के व्यय पर दो माह तक इलाज करने पर भी कोई सकारात्मक परिणाम प्राप्त नहीं हुए। मास्टर अथर्व के पिता श्री नितिन भावसार ने शासन द्वारा संचालित राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत कार्यरत मोबाईल हेल्थ टीम से सम्पर्क किया। टीम ने मास्टर अथर्व की बीमारी से संबंधित रिपोर्ट देखी और वरिष्ठ चिकित्सकों से परामर्श के बाद मास्टर अथर्व को नारायणा हृदयालय बैंगलोर में उपचार किया जाना तय किया। जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग के प्रयास से दिनांक 28 अप्रैल 2016 को मास्टर अथर्व की मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना के अन्तर्गत सफल सर्जरी की गयी। मास्टर अथर्व ने पूर्णत: स्वस्थ हो कर अपना पहला जन्म-दिन मनाया। मास्टर अथर्व भावसार के माता-पिता को एक दिन अचानक पता चला कि ये सुन भी नहीं सकता है। तब अथर्व के पिता श्री नितिन भावसार ने डीईआईसी से संपर्क कर पुन: दिव्य एडवांस ईएनटी क्लीनिक भोपाल आकर जाँच करवाई। इलाज के लिए रुपये 6 लाख 50 हजार का इस्टीमेट बना। फिर 2 जुलाई 2017 को मुख्यमंत्री बाल श्रवण उपचार योजना के अन्तर्गत मास्टर अथर्व का कॉक्लियर इम्पलांट का आपरेशन सफलतापूर्वक हो गया। अभी अथर्व की नियमित स्पीच थैरेपी चल रही है। एक ही बच्चे की दो सर्जरी बाल हृदय एवं काल श्रवण सफल होना अपने आप में चमत्कार है। मास्टर अथर्व की माँ श्रीमती नीना भावसार और पिता श्री नितिन भावसार ने मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा संचालित योजना को सराहनीय कदम बताया है एवं जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा दिये गये सहयोग के लिये हृदय से प्रसन्नता जाहिर की है।
मुस्कान के माता-पिता के चेहरे पर आई मुस्कान
यह कहानी उस बच्ची की है जिसके माता-पिता एक छोटी-सी बस्ती कुष्ठधाम की एक छोटी-सी झोपड़ी में रहकर मजदूरी करके अपना जीवन-यापन कर रहे हैं। मुस्कान के पिता रमेश को मुस्कान के दो वर्ष की होने तक पता नहीं चल पाया कि ये सुनती और बोलती नहीं है। जैसे-जैसे उसकी उम्र बढ़ती गयी माता-पिता की चिंता बढ़ गयी। जिला अस्पताल उज्जैन में चिकित्सकों से जाँच कराने पर पता चला कि ये तो जन्म से ही सुन-बोल नहीं सकती। इसलिये मुस्कान की सर्जरी होगी। गरीबी के कारण माता-पिता को मुस्कान का उपचार असंभव लगने लगा है। तभी वो आरबीएसके टीम के संपर्क में आये। टीम द्वारा उन्हें डीईआईसी रैफर किया गया। डीईआईसी टीम द्वारा परामर्श दिया गया एवं दिव्य एडवांस अस्पताल भेजकर सारी जाँच करवाई गयी। इलाज के लिये 6 लाख 50 हजार रुपये का इस्टीमेट बना। डीईआईसी द्वारा आवश्यक प्रमाण-पत्र लेकर फाईल तैयार की गयी एवं राशि स्वीकृत कर 2 जुलाई 2017 को मुस्कान का सफल ऑपरेशन हुआ। मुस्कान के पूरे परिवार की मासिक आय 5000 रुपये भी नहीं है। ऐसी स्थिति में मुख्यमंत्री बाल श्रवण उपचार योजना द्वारा 6 लाख 50 हजार रुपये की राशि स्वीकृत कर ऑपरेशन कराया गया जो किसी चत्मकार अथवा वरदान से कम नहीं है। अब मुस्कान सुन सकती है। अभी मुस्कान की नियमित स्पीच थैरेपी चल रही है। मुस्कान के माता-पिता बच्ची को मिले नये जीवन के लिये मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को दिल से दुआएं दे रहे हैं। इन्होंने मुख्यमंत्री बाल श्रवण उपचार योजना को समाज के गरीब एवं आर्थिक रूप से पिछड़े तथा कमजोर परिवारों के लिये जीवनदायनी संजीवनी बताया है।


aaप्रदेश के शहर अर्थ-व्यवस्था के ईंजन बनें


7 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश के शहर अर्थ-व्यवस्था के ईंजन बनें। प्रदेश के शहर अधोसंरचना, शुद्ध पेयजल, कचरा प्रबंधन, सीवेज प्रबंधन और पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में अग्रणी बनें। इन सारे प्रयासों में गरीबों के लिये बेहतर व्यवस्था की जाये। हमारे शहर ऐसे बनाये कि दुनिया के लोग देखने आयें। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ स्वच्छ सर्वेक्षण-2018 ‘नगरों को स्वच्छ बनाने की पहल’ कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कार्यशाला में स्वच्छ सर्वेक्षण-2017 में बेहतर प्रदर्शन करने वाले नगरीय निकायों के महापौर-अध्यक्ष, आयुक्त तथा नगरीय निकायों के अधिकारियों को पुरस्कृत किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के हर शहर की अपनी विशेषता है। शहर की पहचान जनता के गर्व से जुड़े जाये, ऐसे प्रयास करें। पर्यावरण को बचाने के लिये पॉलीथिन के दुरूपयोग के बारे में जनता को जागरूक करें। शहरों में पॉलीथिन के विकल्प तैयार हों। आने वाली पीढ़ी के लिये बेहतर पृथ्वी छोड़कर जायें। शहरों में पेड़ लगायें और नदियों को स्वच्छ रखें। आने वाले तीन वर्षों में नगरीय विकास के लिये 85 हजार करोड़ रूपये खर्च किये जायेंगे। शहरी पेयजल योजना में सभी 378 शहरों में शुद्ध पेयजल की व्यवस्था की जायेगी। कचरे के प्रबंधन के लिये प्रदेश में 26 क्लस्टर बनाये गये हैं। अब शहरों में कचरे से जैविक खाद और बिजली बनाई जायेगी।
मुस्कान के माता-पिता के चेहरे पर आई मुस्कान
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के सभी शहरों में मेरा प्रण-मेरा शहर नंबर एक अभियान फिर से शुरू किया जाये। शहरों के हर गली-मोहल्ले में स्वच्छता की अलख जगे। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस आगामी 17 सितम्बर से यह अभियान शुरू किया जाये। स्वच्छता हमारे जीवन का अंग बनें इसका मिशन चलायें। लोगों को स्वच्छता के लिये जागरूक करें। शहरों में फेरी वालों के लिये हॉकर्स कॉर्नर बनायें। शहरी क्षेत्रों में गरीब फेरीवालों से वसूली की व्यवस्था नहीं चलेगी। सभी नगरीय निकायों में भ्रष्टाचार के खिलाफ अभियान चलायें। नागरिक सेवाओं की व्यवस्थाओं का सरलीकरण किया जाये। गरीबों को अधिक से अधिक रोजगार उपलब्ध करायें। पन्नी बिनने वाले बच्चों की शिक्षा की व्यवस्था सभी नगरीय निकाय करें। स्वच्छ सर्वेक्षण–2017 में हासिल उपलब्धियाँ समाज की मानसिकता में परिवर्तन का परिणाम हैं। इसके लिये सभी नगरीय निकायों ने परिश्रम किया हैं। टीम मध्यप्रदेश की इस उपलब्धि पर हमें गर्व है। अब चुनौती है कि स्वच्छता सर्वे-2018 में हमारे अधिक से अधिक नगरीय निकाय सफल हों। इसकी तैयारी शुरू करें। विचार से संकल्प, संकल्प से दृढ़ निश्चय फिर कठोर परिश्रम से संकल्प साकार होता है। अब प्रतिस्पर्धा मध्यप्रदेश के शहरों में हो कि कौन देश में सबसे स्वच्छ शहर बनेगा। नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने कहा है कि स्वच्छता राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। नागरिकों को बेहतर सेवा देना लक्ष्य है। स्वच्छ सर्वे में मूल्यांकन नागरिकों के द्वारा किया जाता है। उन्होंने सभी नगरीय निकायों के प्रयासों की सराहना की और कहा कि अगले स्वच्छ सर्वे – 2018 में और बेहतर परिणाम लायें। प्रमुख सचिव नगरीय विकास श्री मलय श्रीवास्तव ने कहा कि स्वच्छ सर्वे – 2018 आगामी 4 जनवरी से होगा। इसके लिये सभी शहर अभी से प्रयास करें। इंदौर देश के दूसरे शहरों के लिये स्वच्छता के क्षेत्र में उदाहरण बना है। आयुक्त नगरीय विकास श्री विवेक अग्रवाल ने स्वागत भाषण देते हुये कहा कि नगरीय विकास स्वच्छता में मध्यप्रदेश देश में अग्रणी है। प्रदेश के सभी 378 नगरीय निकाय अगले स्वच्छ सर्वे में पहले 500 में रहेंगे।
स्वच्छ सर्वे – 2017 में बेहतर प्रदर्शन करने वाले सम्मानित
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम में स्वच्छ सर्वे–2017 में बेहतर प्रदर्शन करने वाले नगरीय निकायों के महापौर-अध्यक्ष, आयुक्त-मुख्य नगर पालिका अधिकारी और संचालनालय से नियुक्त नोडल अधिकारियों को पदक और ट्राफी देकर सम्मानित किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नगर निगम इंदौर, भोपाल, उज्जैन, नगर पालिका खरगौन, नगर निगम जबलपुर, सागर, कटनी, ग्वालियर, नगर पालिका ओंकारेश्वर, नगर निगम रीवा, रतलाम, सिंगरौली, छिन्दवाड़ा, नगर पालिका सीहोर, नगर निगम देवास, नगर पालिका होशंगाबाद, पीथमपुर, नगर निगम खण्डवा, नगर पालिका मंदसौर, नगर निगम सतना, नगर पालिका बैतूल और छतरपुर के महापौर-अध्यक्ष, आयुक्त-मुख्य नगर पालिका अधिकारी को सम्मानित किया। आरंभ में इंदौर महापौर श्रीमती मालिनी गौड़ और बैतूल नगर पालिका अध्यक्ष श्री अलकेश आर्य ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया। कार्यक्रम में केन्द्रीय शहरी विकास मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्री वी.के. जिंदल सहित प्रदेशभर के नगरीय निकायों के प्रतिनिधि उपस्थित थे। अंत में आभार प्रदर्शन नगरीय स्वच्छता मिशन संचालक श्रीमती मंजू शर्मा ने किया।


aaसमस्याओं के निराकरण के प्रति गंभीर रहें अधिकारी : श्रीमती सिंधिया


7 September 2017

खेल एवं युवा कल्याण मंत्री तथा राजगढ़ जिले की प्रभारी श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वे समस्याओं का निराकरण के प्रति गंभीर रहे और लक्ष्य को निर्धारित कर काम करें। श्रीमती सिंधिया दो दिवसीय दौरे पर राजगढ़ जिले में थी। प्रभारी मंत्री ने खुजनेर में जनसुनवाई के दौरान लाडली लक्ष्मी प्रमाण-पत्र, उज्जवला योजना के तहत गैस चूल्हा कनेक्शन तथा राष्ट्रीय परिवार सहायता के चेक हितग्राहियों को वितरित किए। उन्होंने मोहनपुरा डेम की प्रगति की भी समीक्षा की तथा अधिकारियों को निर्देश दिए की पेयजल समस्याओं के मद्देनजर लक्ष्य तय कर कार्य करें।


aaस्वच्छता लोगों की आदत नहीं, संस्कार बने : श्रीमती माया सिंह


7 September 2017

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने कहा है कि स्वच्छता लोगों की आदत नहीं संस्कार बने। इसके लिए समेकित प्रयास करना आवश्यक है। स्वच्छता राज्य शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता है। श्रीमती माया सिंह 'स्वच्छ सर्वेक्षण 2018' की एक दिवसीय कार्यशाला को संबोधित कर रही थी। इस अवसर पर प्रमुख सचिव नगरीय विकास श्री मलय श्रीवास्तव, सचिव नगरीय विकास श्री विवेक अग्रवाल, भारत सरकार के संयुक्त सचिव, आवास एवं नगरीय विकास श्री वी.के. जिंदल, मिशन संचालक डॉ. मंजू शर्मा, नगरीय निकायों के आयुक्त, मुख्य नगर पालिका अधिकारी, महापौर, अध्यक्ष तथा अधिकारी मौजूद थे। श्रीमती माया सिंह ने स्वच्छता के क्षेत्र में नगरीय निकायों में सघन प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि स्वच्छ सर्वेक्षण 2017 में मध्यप्रदेश अव्वल स्थान पर रहा है। अब जिम्मेदारी और अधिक बढ़ गई है। श्रीमती सिंह ने बताया कि प्रदेश में एक वर्ष के सीमित अंतराल में 378 नगरीय निकायों में से 285 खुले में शौच से मुक्त हो गये हैं। शेष नगरीय निकाय प्रक्रियाधीन है। उन्होंने बताया कि 2 अक्टूबर 2017 तक सभी नगरीय निकाय खुले से शौच मुक्त होगें। श्रीमती सिंह ने कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में कई चुनौतियाँ है। देश के सभी 4041 नगरीय निकाय के बीच यह प्रतिस्पर्धा होगी। इस बार इसमें प्रदेश के सभी 378 नगरीय निकाय शामिल होगें। मंत्री श्रीमती सिंह ने कहा कि आज जनता में सफाई की स्वीकारिता को बढ़ाना तथा नागरिकों के बीच स्वच्छता के प्रति व्यवहार परिवर्तन लाना आवश्यक हैं। उन्होंने कहा कि निकाय अपने काम के साथ क्षेत्र के अधिक से अधिक लोगों तक पहुँच कर स्वच्छता का संदेश पहुँचायें ताकि मध्यप्रदेश देश में मिसाल बने। प्रमुख सचिव श्री मलय श्रीवास्तव ने कहा कि किसी भी स्पर्धा में प्रथम आना मुशिकल है परन्तु उस स्तर को बनाए रखना और भी कठिन और चुनौतियों भरा होता है। उन्होंने नगरीय निकायों के प्रतिनिधियों से स्वच्छता के प्रति जागरूकता के लिए निकायों के पास के स्कूल-कॉलेजों में साफ-सफाई, शौचालय तथा पानी की संपूर्ण व्यवस्था करने की बात कही। इससे स्कूली बच्चों में सफाई के प्रति जागरूकता आएंगी और वे इस अभियान के प्रेरक साबित होगें। सचिव श्री विवेक अग्रवाल ने कहा कि स्वच्छता में नागरिकों की सहभागिता के लिए सभी स्कूल, कॉलेज, सामाजिक संस्थाओं, व्यापारी संघों के बीच 'मेरा शहर स्वच्छ शहर' मुहिम चला कर साफ सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित करें। सफाई नहीं होने पर दंडात्मक कार्यवाही भी करें। उन्होंने कहा कि नगरों के लिए सेपटेज मेनेजमेंट, वेस्ट वाटर मेनेजमेंट तथा वेस्ट टू एनर्जी प्लांट तथा हर शहर को प्लास्टिक मुक्त करने का कार्य प्रगति पर है। कोशिश करें की हर शहर 'बिन फ्री' हो जायें। संयुक्त सचिव श्री वी.के. जिंदल ने कहा कि सफाई अभियान को जन आन्दोलन का स्वरूप देना आवश्यक है। इसके लिए जवाबदेही तय करना आवश्यक है। इस अवसर पर नगर निगम इंदौर तथा भोपाल द्वारा स्वच्छ सर्वेक्षण-2017 में किए गए प्रयासों का प्रस्तुतीकरण दिया गया। नगर निगम जबलपुर द्वारा फीकल स्लज मैनेजमेंट के बारे में जानकारी दी गई। स्वच्छ सर्वेक्षण-2018 के प्रावधानों, पर्यवेक्षण की भूमिका तथा सिटीजन फीडबैक की कार्य-योजना का भी प्रस्तुतीकरण किया गया।


aaमुख्य सचिव श्री सिंह ने सूखा राहत एवं पेयजल स्थिति की समीक्षा की


7 September 2017

मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह ने आज पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की वीडियो कांफ्रेंस में प्रदेश में सूखा राहत एवं पेयजल की स्थिति की समीक्षा की। मुख्य सचिव ने कलेक्टरों को निर्देश दिये कि पेयजल उपलब्धता को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाये। श्री सिंह ने कलेक्टरों से कहा कि जिलें में वर्षा की स्थिति को देखते हुए सूखा राहत की तैयारियों एवं सूखा राहत के प्रस्ताव 30 सितम्बर के बाद भेजे। अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री राधेश्याम जुलानिया ने विडियो कान्फ्रेन्स में कहा कि पेयजल कार्यो के लिए जिला पंचायतों को पर्याप्त धन उपलब्ध कराया जायेगा। सभी कलेक्टर जिला जल समिति की बैठकें आयोजित करें। प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरूण पाण्डे ने सूखा राहत कमेटी की बैठक शीघ्र आयोजित करने के निर्देश कलेक्टरों को दिये। वीडियो कांफ्रेंस में प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री मनोज गोविल, प्रमुख सचिव जल संसाधन श्री पंकज अग्रवाल, संभागीय आयुक्त एवं जिलों के कलेक्टर उपस्थित थे।


aaचित्रकूट विधानसभा उपचुनाव में उम्मीदवारों के खर्चे पर रहेगी निगरानी


7 September 2017

मध्यप्रदेश के सतना जिले के 61-चित्रकूट विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के होने वाले उप चुनाव के लिए तैयारियाँ शुरू कर दी गई है। चित्रकूट विधानसभा क्षेत्र के तत्कालीन विधायक श्री प्रेमसिंह का गत 29 मई को निधन हो जाने के कारण उप चुनाव होना है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय ने कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी और रिटर्निंग ऑफिसर को निर्वाचन व्यय निगरानी के संबंध में चुनाव आयोग के निर्देशों के अनुसार कार्यवाही करने को कहा है। निर्वाचन व्यय निगरानी के संबंध में चुनाव आयोग के सितंबर 2016 के अद्यतन निर्देश चुनाव आयोग की वेबसाइट http://eci.nic.in/eci/eci.html पर उपलब्ध है, जो चित्रकूट उपचुनाव पर भी लागू रहेंगे। जिला निर्वाचन और रिटर्निंग ऑफिसर को निर्देशों का भलीभांति अध्ययन कर प्रत्येक स्तर पर पालन करवाने को कहा गया है। निर्वाचन व्यय निगरानी के लिए जिला नोडल अधिकारी की नियुक्ति कर संबंधितों की बैठक आयोजित करने के निर्देश भी दिये गये है। विभिन्न सामग्री की दरों के निर्धारण के लिए राजनैतिक दलों के साथ बैठक करने के निर्देश दिये गये हें। सहायक व्यय प्रेक्षक (एईओ), फ्लांइग स्क्वाड (एफएसटी), स्थैतिक निगरानी टीम (एसएसटी), वीडियो निगरानी टीम (वीएसटी), वीडिओ अवलोकन टीम (वीवीटी), एकाउंट टीम (एटी), मीडिया प्रमाणन एवं अनुवीक्षण समिति (एमसीएमसी) तथा शिकायत अणुवीक्षण नियंत्रण कक्ष और कॉल सेंटर का गठन करने के लिए कहा गया हैं। कॉल सेंटर 24 x7 कार्य करेगा। निर्वाचन अधिकारियों को अवैध शराब के परिवहन व वितरण को रोकने के लिए आबकारी विभाग के उड़नदस्ते तैनात करने के निर्देश दिये गये है। बैंकों को अभ्यर्थियों का खाता खोलने तथा चैक बुक आदि प्रदाय करने के लिए अभी से व्यवस्था करने के निर्देश दिये गये हैं। राजनैतिक दलों को भी दिन-प्रतिदिन के लेखे तथा निर्वाचन व्यय निगरानी के निर्देशों से अवगत करवाने के लिए कहा गया है। नामंकन भरने वाले अभ्यर्थियों को लेखे का अद्यतन रजिस्टर नामांकन भरने के साथ ही प्रदाय किये जाना चाहिए। जिला कलेक्टर को निर्वाचन व्यय संबंधी संवेदनीशल क्षेत्रों की जानकारी तत्काल उपलब्ध करवाने के लिए कहा गया है। निर्वाचन व्यय संबंधी संवेदनशील पॉकेट चयन कर सेक्टर एवं पुलिस अधिकारियों आदि से इनपुट प्राप्त करने के लिए भी कहा गया है। साथ ही निर्वाचन व्यय निगरानी संबंधी जानकारी से सभी को अवगत करवाने के निर्देश भी दिये गये हैं।


aaजर्मनी के सहयोग से दी जायेगी अंतर्राष्ट्रीय स्तर की वोकेशनल ट्रेनिंग


6 September 2017

जर्मनी के सहयोग से मध्यप्रदेश के विद्यार्थियों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर की वोकेशनल ट्रेनिंग दिलवायी जायेगी। तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने यह बात जी.आई.जेड. जर्मनी के भारत में प्रोजेक्ट डायरेक्टर श्री जोहानेस स्ट्रिटमेटर से भेंट के दौरान कही। श्री जोशी ने कहा कि जर्मनी कुशल मानव शक्ति के आधार पर ही विश्व का सबसे बड़ा निर्यातक देश है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के बच्चों को जर्मनी के माध्यम से ऐसी ट्रेनिंग दिलवायी जायेगी, जिससे वे विश्व स्तर की कुशलता प्राप्त कर सकें। श्री जोशी ने बताया कि भारत के जर्मनी .से मित्रवत संबंध स्वतंत्रता संग्राम के समय से हैं। श्री स्ट्रिटमेटर ने बताया कि विश्व के कुल 130 देश में जी.आई.जेड. संस्था काम कर रही है। भारत में महाराष्ट, कर्नाटक और राजस्थान में स्किल डेव्हलपमेंट के क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं। यह संस्था जर्मनी सरकार से संबद्ध है। उन्होंने कहा कि मशीन तो सब जगह लगभग समान हैं, लेकिन कुशल मानव शक्ति ही मशीनों का बेहतर उपयोग कर सकती है। गौरतलब है कि भोपाल का क्रिस्प भी जर्मनी के सहयोग से ही संचालित किया गया था।
डी.एफ.आई.डी. के प्रमुख श्री गेविन मेक्गलिवेरे ने की भेंट
तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री श्री जोशी से ब्रिटेन के मिनिस्टर काउंसलर डेव्हलपमेंट फॉर इंटरनेशनल डेव्हपमेंट (डी.एफ.आई.डी.) श्री गेविन मेक्गिलिवेरे ने भेंट की। डी.एफ.आई.डी. विगत तीन वर्षों से मध्यप्रदेश राज्य कौशल विकास मिशन के साथ काम कर रहा है। श्री जोशी ने कहा कि प्रदेश में निर्माण, कृषि, सोलार एनर्जी, आटो मोबाइल और टूरिज्म सेक्टर में कौशल विकास की अधिक जरूरत है। श्री जोशी ने कहा कि वर्तमान में जिन क्षेत्रों में काम हो रहा है, उनके अतिरिक्त इन क्षेत्रों में भी प्राथमिकता से कार्य करें। इस दौरान संचालक कौशल विकास संजीव सिंह, क्रिस्प के सीईओ श्री मुकेश शर्मा और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


aaनगरों को स्वच्छ बनाने की पहल" पर कार्यशाला आज


6 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान स्वच्छ सर्वेक्षण-2017 में उल्लेखनीय कार्य करने वाले नगरीय निकायों को 7 सितंबर को विधानसभा में आयोजित कार्यक्रम में सम्मानित करेंगें। उल्लेखनीय है कि स्वच्छ सर्वेक्षण-2017 में उप अमृत शहरों में से 22 शहर देश के प्रथम 100 शहरों में अपना स्थान बनाने में सफल रहे है। इंदौर को प्रथम तथा भोपाल को द्वितीय स्थान प्राप्त हुआ है। भारत का सबसे तेज शहर (जन संख्या-10 लाख) में रीवा, 2 लाख से कम जनसंख्या में सबसे तेज शहर में खरगोन को पुरस्कृत किया गया था। दस लाख से ज्यादा जनसंख्या वाले पश्चिम जोन में ग्वालियर को सबसे तेज शहर, 2-10 लाख की जनसंख्या के पश्चिम जोन में सबसे साफ शहर में उज्जैन तथा पश्चिम जोन में 2-10 लाख की जनसंख्या वाले भारत के सबसे तेज शहर के लिए सागर को चुना गया था।
स्वच्छ सर्वेछण-2018 की तैयारी
नगरों को स्वच्छ बनाने की पहल स्वच्छ सर्वेक्षण-2018 के तैयारियों के लिए एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन विधानसभा में किया जा रहा है। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह प्रात: 11 बजे कार्यशाला का उदघाटन करेंगी। कार्यशाला में भारत सरकार के प्रतिनिधि, नगरीय निकायों के आयुक्त, मुख्य नगर पालिका अधिकारी, महापौर, अध्यक्ष तथा अधिकारी उपस्थित रहेंगे। स्वच्छ सर्वेक्षण-2018 की तैयारियों के मद्देनजर विभिन्न नगर निगम द्वारा फीकल स्लज मैनेजमेंट, स्वच्छ सर्वेक्षण 2018 के प्रावधान तथा पर्यवेक्षा की भूमिका, सिटी जन फीडबैक की कार्य योजना का प्रस्तुतीकरण दिया जायेगा।


aaपितृ पक्ष में पौध-रोपण कर भावी पीढ़ी को दें जीवन का उपहार


6 September 2017

प्रमुख सचिव एवं एप्को के कार्यपालन संचालक श्री अनुपम राजन ने कहा कि आज से शुरु हो रहे पितृपक्ष पखवाड़े में पूर्वजों की स्मृति में छायादार या फलदार वृक्षों का पौध-रोपण करें। इससे उनकी स्मृति चिर-स्थायी होगी, हरियाली बढ़ने से पर्यावरण संतुलन समृद्ध होगा और आने वाली पीढ़ी को जीवनदायी सौगात मिलेगी। श्री राजन ने यह बात आज एप्को परिसर में शासकीय विद्यालयों के विज्ञान शिक्षकों के लिए जलवायु परिवर्तन विषय पर दो दिवसीय शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ करते हुए कही। कार्यक्रम में प्रत्येक जिले से 20- 20 विज्ञान शिक्षक भाग ले रहे हैं। श्री राजन ने कहा जलवायु परिर्वतन के दुष्परिणाम बड़ी तेजी से सामने आ रहे हैं। पर्यावरण संतुलन देश-प्रदेश नहीं, पूरे विश्व की ज्वलंत समस्या बन रहा है। एप्को ने पर्यावरण के प्रति घर-घर और जन-जन को जागरुक करने का निश्चय किया है। इसके लिए शिक्षकों की मदद ली जा रही है। सभी 51 जिलों के लगभग एक हजार शिक्षकों को प्रशिक्षित कर उनके माध्यम से एक लाख से अधिक छात्र-छात्राओं को जलवायु परिवर्तन और उससे होने वाली हानि और बचाव के उपायों के प्रति संवेदनशील बनाया जायेगा। ये विद्यार्थी अपने परिवारों को भी जागरुक करेंगे। बच्चों में यह संस्कार विकसित होने पर भविष्य में जलवायु परिवर्तन की भयावहता को नियंत्रित करने में काफी मदद मिलेगी। दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत भोपाल संभाग के जिला भोपाल, सीहोर और रायसेन जिले के शिक्षकों के साथ हुई। विषय-विशेषज्ञों के साथ हुए तकनीकी सत्र और प्रस्तुतिकरण के दौरान शिक्षकों ने स्थानीय समस्यायें और सुझाव भी रखे। प्रतिभागियों को प्रायोगिक गतिविधियों के माध्यम से भी प्रशिक्षण दिया गया। उन्हें जलवायु परिवर्तन जनित खतरों और आपदाओं से निपटने की जानकारी दी गई। कार्यक्रम को स्कूल शिक्षा विभाग के संयुक्त संचालक श्री देवेन्द्र चतुर्वेदी और एप्को के वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी श्री लोकेन्द्र ठक्कर ने भी सम्बोधित किया ।


aaशिक्षकों को तीस साल की सेवा पूर्ण करने पर मिलेगा तीसरा समयमान वेतन


5 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि शिक्षकों की होने वाली भर्ती में अतिथि शिक्षकों के लिये 25 प्रतिशत पद आरक्षित रखे जाएंगे। उनकी अलग परीक्षा होगी। शिक्षकों की भर्ती में खेल शिक्षकों को शामिल किया जाएगा। विद्यालयों में खेल का पीरियड अनिवार्य होगा। वर्तमान शिक्षा व्यवस्था में बदलाव के लिए आयोग बनाया जाएगा। तीस वर्ष का सेवाकाल पूरे करने वाले शिक्षकों को तीसरा समयमान वेतनमान दिया जाएगा। वरिष्ठता के आधार पर पद नाम में परिवर्तन किया जाएगा। शिक्षकों की वर्गीकृत व्यवस्था को एकात्म किया जाएगा। श्री चौहान ने आज राज्य-स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए ये घोषणाएं की। यह समारोह लोक शिक्षण संचालनालय द्वारा मॉडल स्कूल, टी.टी. नगर में आयोजित किया गया था।
गुरूजनों का योगदान अतुलनीय
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गुरुजनों का योगदान अतुलनीय है। शिष्यों को शिक्षक द्वारा दिखाई गई सही राह जितनी जिदंगी बना सकती है, गलत राह उतनी ही बिगाड़ भी सकती है। शिक्षक राष्ट्र निर्माण की रीढ़ हैं। इसलिये शिक्षकों का चयन सावधानी से किया जाए। शिक्षण कला है जिसमें अंकों का नहीं पढ़ाने की तड़प का महत्व है। शिक्षक, शिक्षा को मिशन बना लेंगे, तब सुविधाओं, वेतन आदि का ध्यान नहीं आएगा, ऐसे शिक्षक ही राष्ट्र निर्माता का निर्माण करते हैं। उन्होंने शासकीय विद्यालयों के शिक्षकों का उल्लेख करते हुए कहा कि सुविधा विहीन दूरस्थ अंचलों के शिक्षक चमत्कार कर रहे हैं। मंडला, डिण्डोरी, धार जिलों और बैगा जनजाति के बच्चे आई.आई.टी., आई.आई.एम. में चयनित हो रहे हैं। सरकार द्वारा लेपटॉप दिये जाने की योजना में भी आधे से ज्यादा सरकारी स्कूलों के बच्चे हैं। उन्होंने कहा कि जीवन जीने की कला शिक्षक सिखाता है। शिक्षक नया जीवन देता है। गुरु की महिमा से अनेकों ग्रंथ भरे हैं। उन्होंने एवजी शिक्षक की घटना का उल्लेख करते हुए कहा कि ऐसी इक्का-दुक्का घटनाओं से पूरा शिक्षक समाज बदनाम होता है। मुख्यमंत्री ने आव्हान किया कि गलत लोगों को स्वयं समाज से बाहर कर दें। नये भारत निर्माण के अनुरूप भावी पीढ़ी के निर्माण के लिये प्रतिबद्ध हों। शिक्षकों की सम्मानजनक जिन्दगी का पूरा इंतजाम किया जाएगा। सरकार ने शिक्षा के लिये 20 हजार करोड़ रुपये का बजट रखा है।
शिक्षा व्यवस्था में बदलाव
मुख्यमंत्री ने शिक्षा व्यवस्था में बदलाव की जरूरत बताते हुए कहा कि शिक्षा राज्याश्रित नहीं होना चाहिये। समाज आधारित शिक्षा व्यवस्था हो। शिक्षक किसी पर आश्रित नहीं रहें। उन्होंने बदलाव के लिये चिंतन की जरूरत बताते हुए कहा कि प्रदेश में इस दिशा में पहल की जाए। ऐसी शिक्षा व्यवस्था हो, जिसमें सरकारी धनाभाव नहीं शिक्षा समाज की जिम्मेदारी हो। शिक्षा व्यवस्था बनाना राजनेता और सरकार का काम नहीं हो। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था के अवमूल्यन के प्रसंग का उल्लेख करते हुए शिक्षा कर्मी, 500 के मानदेय पर गुरुजी जैसी अस्त-व्यस्त स्थिति उत्तराधिकार में मिलने की बात कहीं। उन्होंने कहा कि इसमें निरंतर सुधार के प्रयास हो रहे हैं। आज शिक्षकों को 33 हजार रुपये से लेकर 43 हजार रुपये प्रति माह वेतन मिलने लगा है। उन्होंने प्राचीन भारत की शिक्षा प्रणाली का विवरण देते हुए कहा कि राज्याश्रय वाली शिक्षा में कौरवों-पांडवों के गुरु द्रोणाचार्य गरीब एकलव्य का अंगूठा मांग लेते थे जबकि समाज आधारित व्यवस्था में गुरू संदीपन के उज्जैन आश्रम में कृष्ण और सुदामा को एक समान शिक्षा मिलती थी। उन्होंने समुदाय आधारित स्कूलों की उत्कृष्ट व्यवस्था का उदाहरण देते हुए चिंतन की जरूरत बताई।
विद्यालय की यादों का स्मरण किया
श्री चौहान ने कहा कि वे कार्यक्रम में पूर्व छात्र के रूप में शामिल हो रहे है, जहाँ उन्होंने 9, 10 और 11वीं कक्षा की शिक्षा प्राप्त की। इसी विद्यालय से नेतृत्व का गुण उन्हें मिला। उन्होंने छात्रसंघ अध्यक्ष चुनाव के प्रसंग का उल्लेख करते हुए कहा कि वर्तमान हेडबॉय और हेड गर्ल की उपमाएँ उन्हें आकर्षक नहीं लगी। उन्होंने पूर्व छात्रों, पूर्व शिक्षकों, श्री रतनचंद जैन, शैलबाला मैडम, कश्यप सर, कौशिक मैडम, तैलंग सर, अरोरा सर, बारी सर का स्मरण करते हुए कहा कि इन्हीं शिक्षकों ने उनके व्यक्तित्व का निर्माण किया। उन्होंने शिक्षकों के प्रति अपनी अगाध श्रद्धा का उल्लेख करते हुए विद्यालय की खेलकूद व्यवस्थाओं और स्टडी टूर की जानकारी ली और गोवा-मुम्बई के टूर की घटनाओं के दौरान बस वाहन चालक रफीक भाई और जमील भाई का स्मरण किया। उनको बताया गया कि बाघा बार्डर पर विद्यार्थियों का दल भेजा जा रहा है।
बचपन को नहीं मारे
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पालकों से कहा कि वे बच्चों को कैसा जीवन देना चाहते हैं, इस पर विचार करें। बच्चों को मशीन नहीं बनायें। स्वस्थ नैसर्गिक विकास होने दें। उन्होंने बच्चों पर कुंठा और पाश्चात्य प्रभाव से होने वाली आत्महत्या की घटनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि ब्लू व्हेल वीडियो गेम को प्रतिबंधित करवाने का प्रयास किया जा रहा है। बच्चों की इस दशा के लिए पालक, परिवार, समाज और सरकार सभी जिम्मेदार हैं। उन्होंने शिक्षकों की टीम बनाकर बस्तों का बोझ खत्म करने की दिशा में पहल करने के लिये कहा।
प्रकृति से खिलवाड़ नहीं
श्री चौहान ने वर्तमान समय की वैश्विक पर्यावरणीय चुनौतियों का उल्लेख करते हुए प्रकृति से खिलवाड़ नहीं करने के प्रति आगाह किया। उन्होंने कहा कि जब प्रकृति खेलती है, तो विभीषिकाएँ आती हैं।
महिला संस्कृत विद्यालय खुलेगा
स्कूल शिक्षा मंत्री श्री कुंवर विजय शाह ने कहा कि राज्य में पहली बार महिला संस्कृत विद्यालय शुरू किया जा रहा है। स्कूलों में सभी धर्मों, समाजों और वर्गों के पर्वों, उत्सवों की जानकारियाँ, दीनदयाल उपाध्याय के जीवन चरित्र पर आधारित चित्रावली और तिरंगे की कहानी की पुस्तकें तैयार की गई हैं। शीघ्र ही 40 हजार शिक्षकों की भर्ती की जाएगी। सभी उत्कृष्ट विद्यालयों में कम्प्यूटर लैब, स्मार्ट क्लास और वातानुकूलित ऑडीटोरियम बनवाने के प्रयास किये जा रहे हैं। बच्चों को अच्छा शैक्षणिक माहौल देने के निरतंर प्रयास जारी हैं।
परिणामों में भारी भेद खत्म हो
स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने शिक्षकों का आव्हान किया कि शैक्षणिक परिणामों में कहीं 90 प्रतिशत तो कहीं 15 प्रतिशत होना अत्यंत चिंतनीय है। इसे समाप्त करने की दिशा में और अधिक प्रयास जरूरी हैं। उन्होंने वर्ष 2003 के पूर्व की शिक्षकों की अलग-अलग वर्गीकृत व्यवस्था को शिक्षा व्यवस्था तोड़ने का उपक्रम बताते हुए कहा कि शिक्षकों को एक प्लेटफार्म पर लाने का प्रयास हो रहा है। शिक्षक कर्मचारी नहीं, प्रदेश निर्माता है, इस भावना से कृत-संकल्पित हों। राष्ट्र निर्माता बनें।
शिक्षक के साथ आस्था का सम्मान
अनुसूचित जाति-जनजाति विकास राज्य मंत्री श्री लालसिंह आर्य ने कहा कि शिक्षकों का सम्मान उनके विद्यालय और उनकी आस्था का सम्मान है। अच्छे बालक-बालिका का निर्माण नये भारत का निर्माण करेगा। उन्होंने राज्य सरकार द्वारा गरीब एवं कमजोर वर्ग की गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के प्रयासों का उल्लेख करते हुए कहा कि गरीब दूरस्थ अंचल के विद्यार्थी आज विदेशों में अध्ययन कर रहे हैं। प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती दीप्ति गौड़ मुखर्जी ने बताया कि ये सम्मान कक्षा शिक्षण, खेल प्रशिक्षण, बालिका शिक्षा और विद्यालय उन्नयन में विशिष्ट योगदान देने वाले शिक्षकों को दिये गये हैं। उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा शीघ्र ही शिक्षकों को विचारों, अनुभवों और समस्याओं के आदान-प्रदान का मंच उपलब्ध करवाया जा रहा है जिसमें शिक्षक ही समस्या का समाधान बताएंगे। शिक्षा व्यवस्था में शिक्षक आधार स्तंभ हैं। उनके कौशलवर्धन के लिये उन्नत प्रशिक्षण कार्यक्रम तैयार किया गया है ताकि शिक्षक बच्चों की जिज्ञासा को बढ़ाने में सक्रिय सहयोग कर सकें। समारोह में राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार 2015 से सम्मानित 13, राज्य-स्तरीय शिक्षक सम्मान 2017 से सम्मानित 51 और राष्ट्रीय शिक्षक संगोष्ठी के प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान पाने वाले शिक्षकों को सम्मानित किया गया। प्रारंभ में अतिथियों द्वारा माँ सरस्वती की प्रतिमा और पूर्व राष्ट्रपति स्वर्गीय सर्वपल्ली राधाकृष्णन् के चित्र पर पुष्प-माला अर्पित एवं दीप-प्रज्जलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। कार्यक्रम में माध्यमिक शिक्षा मंडल के अध्यक्ष श्री एस.आर. मोहंती, उपाध्यक्ष श्री भागीरथ कुमरावत, शिक्षक और गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।


aaधार्मिक उत्सव समितियां अस्थायी विद्युत कनेक्शन लेकर ही करें साज-सज्जा


5 September 2017

मध्यप्रदेश पूर्व, मध्य एवं पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी ने धार्मिक उत्सव समितियों और बिजली उपभोक्ताओं से अपील की है कि वे रामलीला, दुर्गोत्सव, गरबा, डांडिया एवं मोहर्रम के दौरान धार्मिक पण्डलों एवं झांकियों में बिजली की साज-सज्जा नियमानुसार अस्थायी कनेक्शन लेकर ही करें। विद्युत कनेक्शन मीटरीकृत होगा। बिजली बिल को बिलिंग नियमानुसार अस्थाई कनेक्शन के लिये लागू घरेलू दर पर की जाएगी। इसके लिए आवेदन में दर्शाए अनुसार विद्युत भार के अनुरूप सुरक्षा निधि एवं अनुमानित विद्युत उपभोक्ता की राशि अग्रिम जमा कराकर पक्की रसीद प्राप्त की जाना चाहिए। उत्सव समितियों से अपील की गई है कि वे आयोजन पूरे उल्लास और परम्परानुसार मनाए, साथ ही पण्डाल और उसके बाहर मैदान, सड़क पर लगाई जाने वाली बिजली में कम से कम 25 प्रतिशत की बचत कर ऊर्जा संरक्षण में योगदान करें। बिजली उपभोक्ता समितियां पण्डालों, झांकियों में विद्युत साज-सज्जा के लिए कंपनी के निकटतम वितरण केन्द्र, सहायक अभियंता के कार्यालय में निर्धारित प्रपत्र में सही, संयोजित विद्युत भार को दर्शाते हुए अस्थायी कनेक्शन का आवेदन करें। समितियों और उपभोक्ताओं को एक लिखित आश्वासन देना होगा कि आवेदित विद्युत भार से अधिक का उपयोग नहीं करेंगे तथा लायसेंसी विद्युत ठेकेदार की टेस्ट रिपोर्ट आवेदन में संलग्न करेंगे। वायरिंग इत्यादि विद्युत ठेकेदार से ही करवाने के लिए कहा गया है। पण्डाल में अच्छे प्रतिरोधक क्षमता वाले तारों का ही उपयोग करें। जोड़ों पर सही प्रकार के इन्सुलेशन टेप लगाएं। तारों को परदे तथा लकड़ी की सामग्री से दूर रखें। आवेदित विद्युत भार से अधिक भार का उपयोग विद्युत साज-सज्जा के लिए नहीं करें। अनाधिकृत तरीके से विद्युत का उपयोग नहीं किया जाए। विद्युत वितरण कंपनियों ने सचेत किया है कि अधिक भार से ट्रांसफार्मर जलने की तथा दुर्घटना की आशंका रहती है। पारेषण एवं वितरण प्रणाली पर विपरीत असर होने से अंधेरे की संभावना का खतरा रहता है। समितियों को कहा गया है कि अनाधिकृत विद्युत उपायोग करने पर इलेक्ट्रिसिटी एक्ट 2003 के तहत उपयोगकर्ता एवं संबंधित विद्युत ठेकेदार के विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी। साथ ही विद्युत ठेकेदार का लायसेंस भी निरस्त हो सकता है। बिजली उपभोक्ताओं से आग्रह किया गया है कि वे झांकियों के निर्माण एवं विद्युत साज-सज्जा में विद्युत सुरक्षा नियमों का अनिवार्य रूप से पालन करें।


aaग्रामीण क्षेत्रों के 385 स्वास्थ्य केन्द्रों में बनेंगे 392 स्वच्छता परिसर


5 September 2017

प्रदेश के सभी ग्रामीण क्षेत्रों में खुले में शौच की प्रवृत्ति बंद करने और ग्रामवासियों में स्वच्छता की आदत सुदृढ़ करने के उद्देश्य से राज्य शासन ने 385 प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में सामुदायिक स्वच्छता परिसर बनाने के लिये 7 करोड़ 84 लाख रुपये की प्रशासकीय स्वीकृति जारी की है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत विकास आयुक्त द्वारा प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण की सहमति से जारी इस स्वीकृति से प्रति परिसर 2 लाख रुपये की लागत से मरीज और उनके परिजनों के लिये शौचालय का निर्माण होगा। सामुदायिक स्वच्छता परिसर का निर्माण राज्य स्वच्छता मिशन द्वारा निर्धारित मानक, तकनीक और मापदण्डों के अनुसार होगा। निर्माण में स्थानीय परिस्थितियों का भी ध्यान रखा जायेगा। निर्माण एजेंसी संबंधित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र की रोगी कल्याण समिति होगी। पूरा होने के बाद ई-निगरानी मोबाइल एप से ब्लॉक समन्वयक स्वच्छ भारत मिशन द्वारा फोटो पोर्टल पर अपलोड करना होगा। निर्माण कार्य इसी वित्तीय वर्ष में पूर्ण कराने के निर्देश दिये गये हैं।


aaपरिवहन सेवा में विद्युत चलित वाहन उपयोग की संभावनाएँ तलाशें


4 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने नगर परिवहन सेवा में विद्युत चलित वाहनों के उपयोग की संभावनायें तलाशने के निर्देश दिए है। उन्होंने कहा है कि ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में मध्यप्रदेश को देश में अव्वल आना चाहिए। श्री चौहान आज मंत्रालय में निवेशकों से भेंट उपरांत ईज ऑफ डूइंग बिजनेस पर अधिकारियों से चर्चा कर रहे थे। इस अवसर पर वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ला भी मौजूद थे।
निवेशकों ने की भेंट
मुख्यमंत्री श्री चौहान से अवान्ता ग्रुप के चेयरमेन श्री गौतम थापर, छिंदवाड़ा प्लस डेव्हलपर्स लिमिटेड के प्रर्वतक श्री कमल अग्रवाल, सागर मेन्यूफ्रेक्चरिंग के श्री सुधीर अग्रवाल और श्री सिद्धार्थ अग्रवाल ने भेंट की। मुख्यमंत्री को निवेशकों ने परियोजनाओं की प्रगति और भविष्य की योजनाओं से अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने आश्वस्त किया कि निवेशकों को जो सुविधाएँ, सहूलियतें देने की बात सरकार ने कही है, उन पर अमल पूरी निष्ठा से होगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि आवश्यक होने पर संशोधन के प्रस्ताव मंत्रिमंडल के समक्ष प्रस्तुत करें।
ईज ऑफ डूइंग में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करें
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इज ऑफ डूइंग बिजनेस के प्रस्तुतिकरण का अवलोकन किया। उन्होंने कहा कि इसमें राज्य का प्रदर्शन सर्वश्रेष्ठ होना चाहिए। जिन राज्यों ने गत वर्षों में बेहतर प्रदर्शन किया है, उनकी जानकारियों के साथ तुलनात्मक प्रतिवेदन प्रस्तुत करें। इस अवसर पर बताया गया कि इज ऑफ डूइंग बिजनेस के कार्यों में जून माह तक 82 प्रतिशत लक्ष्य की प्राप्ति हो गई है। शेष 17 प्रतिशत लक्ष्य शीघ्र पूरे किये जाएंगें। बैठक में मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, प्रमुख सचिव वाणिज्य एवं उद्योग श्री मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरूण पाण्डेय, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री एस.के. मिश्रा और सचिव श्री हरिरंजन राव भी शामिल हुए।


aaवर्षा की स्थिति देखते हुए शार्ट-टर्म प्लान बनाएं : मुख्यमंत्री श्री चौहान


4 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि किसानों की आय को दोगुना करने की सुविचारित व्यवहारिक कार्ययोजना बने। अल्प वर्षा और अवर्षा से प्रभावित होने की आशंका वाले क्षेत्रों के लिए शार्ट-टर्म आपात योजना भी बनाएं। सिंचाई और पेयजल की आवश्यकताओं का आकलन करते हुए, जल भंडारण की समुचित तैयारी करें। प्रवाहमान जल को रोकने के सभी समुचित उपाय युद्ध स्तर पर किये जाएं। इसी परिप्रेक्ष्य में कृषि से जुड़े अन्य विभाग ऊर्जा, उद्यानिकी, सिंचाई, पी.एच.ई. आदि भी समय रहते आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करें। श्री चौहान ने आज मंत्रालय में कृषि कैबिनेट की बैठक में यह निर्देश दिये। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसान सम्मेलनों के प्रति किसानों में जिज्ञासा उत्पन्न की जाए। आय दोगुना करने की तैयारियों का समस्त विवरण दिया जाए। अंतर्वर्ती फसल लेने वाले किसानों के ब्यौरे सहित सफलता की कहानी प्रभावशाली तरीके से दी जाए। मृदा कार्ड उपयोग का तरीका बताया जाए। जैविक उत्पादों की प्रमाणिकता और विक्रय के आउटलेट खुलवाए जाएं। धान खरीदी के साथ ही भावांतर भुगतान योजना के लिए पंजीयन की पुख्ता व्यवस्था हो। उन्होंने खाद्य प्रसंस्करण की छोटी-छोटी इकाईयों से बड़ा काम करने के लिए पंचायत स्तर पर इकाईयों की स्थापना करवाने के निर्देश दिए। संरक्षित खेती में शेडनेट हाऊस को प्रोत्साहित कराने के लिए भी कहा। मुख्यमंत्री ने गेहूँ के प्रति हैक्टर उत्पादन में प्रदेश को अव्वल बनाने का लक्ष्य लेकर प्रयास करने के निर्देश दिये। साथ ही कृषि वानिकी विस्तार कार्यक्रम के तहत नर्मदा तटीय क्षेत्रों पर फोकस की जरूरत बताई।
कृषि कैबिनेट में हुए निर्णय
कृषि कैबिनेट में सर्वसम्मति से निर्णय किया गया कि कस्टम हायरिंग केन्द्रों की स्थापना, किसान संतान उद्यमी योजना के तहत करवायी जाए। किसान सम्मेलन 30 सितम्बर से 15 अक्टूबर तक आयोजित किये जाएं। सम्मेलन में शामिल होने वाले वैज्ञानिकों और अधिकारियों की राज्य स्तरीय कार्यशाला आयोजित की जाए। सम्मेलनों की मंशा और महत्व की जानकारी सभी संबंधितों को दी जाए। नरवाई जलाने वाले क्षेत्रों में किसानों को भूसा विक्रय के लिये प्रोत्साहित किया जाए। कस्टम प्रोसेसिंग सेंटर प्रत्येक विकासखंड में खुलवायें जाएं। उनका उपयोग विकासखंड के अन्य उद्यमियों को प्रेरित और प्रशिक्षित करने में किया जाए। प्राथमिक प्रसंस्करण एवं मूल्य संवर्धन के कस्टम हायरिंग केन्द्रों की स्थापना की नवीन योजना को सैद्धांतिक सहमति दी गई।
राष्ट्रीय उत्पादकता से अधिक हुई 8 फसलों की उत्पादकता
बैठक में प्रमुख सचिव डॉ. राजेश राजौरा ने कृषि विभाग का प्रस्तुतिकरण किया। किसान की आय को दोगुना करने के रोडमैप और विगत 18 माह में क्रियान्वयन की स्थिति की जानकारी दी। डॉ. राजौरा ने बताया कि चना, सोयाबीन, कुल दलहनी फसलें, कुल तिलहनी फसलें, अमरूद, टमाटर कुल जैविक क्षेत्र, जैविक प्रमाणीकरण प्रक्रिया में देश में प्रदेश प्रथम स्थान पर है। राज्य में जैविक कपास, सोयाबीन और गेहूँ का उत्पादन हो रहा है। खरीफ फसलों की उत्पादकता में वर्ष 2022 के लक्ष्यों की तुलना में बाजरा, अरहर, उड़द और मूंग की उत्पादकता का निर्धारित लक्ष्य वर्ष 2016-17 में ही प्राप्त कर लिया गया है। इसी तरह, रबी फसलों जौ और मसूर की वर्ष 2016-17 की उत्पादकता 2022 के लक्ष्य से अधिक हो गई है। आठ फसलों सोयाबीन, चना, अरहर, मूंग, उड़द, ज्वार, बाजरा और कपास की उत्पादकता राष्ट्रीय उत्पादकता से अधिक हो गई है। कृषि अनुसंधान में मध्यप्रदेश को उल्लेखनीय उपलब्धियाँ अर्जित हुई हैं। देश में पहली बार येलो मोजेक सुरक्षित सोयाबीन की जैनेटिक वैरायटी और मैकनेकिल हार्वेस्टिंग वाली सोयाबीन के बीज का विकास हुआ है।
फल सब्जी की ई-मंडी बनेगी
प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल ने उद्यानिकी विभाग का प्रस्तुतिकरण किया। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय बाजार के रूप में इंदौर में पीपीपी मोड में फल एवं सब्जियों की अत्याधुनिक ई-मंडी स्थापित होगी। उद्यानिकी फसलों और तकनीक से उत्पादकता वृद्धि परामर्श सेवा के लिये विख्यात 25 विषय विशेषज्ञ सूचीबद्ध किए गए हैं। कलस्टर आधारित विकास के लिए 509 फल और 597 सब्जी कलस्टर चयनित किये गये हैं। कलस्टर अंतर्गत अभी तक कुल 42 हजार 252 हेक्टर में उद्यानिकी फसलों का विकास किया गया है। पाँच वर्ष की अवधि में उद्यानिकी फसलों के लक्ष्य की तुलना में 2 वर्ष की अवधि में एक तिहाई लक्ष्य की प्राप्ति हो गई है। फल, सब्जी, मसाला, पुष्प, औषधि एवं सुगंधित फसल अंतर्गत 2 लाख 23 हजार 57 हेक्टर क्षेत्र का आच्छादन हो गया है।
प्रधानमंत्री ने कृषि प्रगति को बताया अदभुत
कृषि कैबिनेट में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने मध्यप्रदेश की कृषि क्षेत्र में हुई प्रगति को अदभुत बताया है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्रियों की बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने मध्यप्रदेश में कृषि में हुई प्रगति की सराहना की है और कहा कि राज्य की प्रगति अदभुत है।
कृषि क्षेत्र की एक वर्ष में बढ़ी 53 हजार करोड़ रूपये आय
बैठक में बताया गया कि वर्ष 2016-17 के दौरान कृषि आय 2 लाख 22 हजार 174 करोड़ रूपये रही है। वर्ष 2015-16 के दौरान यह एक लाख 68 हजार 427 करोड़ रूपये थी, इस प्रकार, गत वर्ष कृषि आय में 53 हजार 744 करोड़ रूपये आय की अतिरिक्त वृद्धि हुई है। योजना एवं सांख्यिकी विभाग द्वारा जारी नवीनतम आँकड़ों के अनुसार वर्ष 2016-17 के दौरान वर्तमान मूल्यों पर वृद्धि दर्ज की है। प्राथमिक क्षेत्र में भी प्रचलित मूल्यों पर 29.08 प्रतिशत की वृद्धि परिलक्षित हुई है। बैठक में वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया, वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन, लोक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री श्री रूस्तम सिंह, राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, ऊर्जा मंत्री श्री पारसचंद्र जैन, नर्मदा घाटी विकास राज्य मंत्री श्री लालसिंह आर्य एवं मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह भी उपस्थित थे।


aaप्रदेश में सभी मुख्य सड़कें आवागमन के लिये बेहतर स्थिति में रहें : मुख्यमंत्री श्री चौहान


4 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिये हैं कि प्रदेश की सभी मुख्य सड़कें और जिला मार्ग आवागमन के लिये बेहतर स्थिति में रहें। इसके लिये आवश्यकतानुसार सुधार कार्य भी किये जाएं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने यह निर्देश आज यहाँ लोक निर्माण विभाग की समीक्षा बैठक में दिये। बैठक में बताया गया कि लोक निर्माण विभाग द्वारा बीते एक वर्ष में तीन हजार 799 किलोमीटर सड़कों और 85 पुलों का निर्माण किया गया है और तीन हजार 700 किलोमीटर सड़कों का नवीनीकरण किया गया है। इस कार्य में करीब 2,766 करोड़ रूपये खर्च किये गये हैं। बैठक में लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में कहा कि सड़कों के लिये संसाधन जुटाने के लिये योजना बनाएं। आदिवासी बाहुल्य जिलों में सड़कों के निर्माण के लिये जिला माईनिंग फण्ड की राशि का उपयोग किया जाए। ग्रामीण क्षेत्र में कम लम्बाई की छोटी सड़कों के निर्माण के लिये ग्रामीण विकास विभाग के तहत उपलब्ध राशि का उपयोग किया जाए। सड़कों के सुधार के लिये आवश्यक राशि उपलब्ध कराई जाएगी। बैठक में बताया गया कि योजना एवं सीआरएफ के तहत 1440 करोड़ रूपये की लागत से 900 किलोमीटर मुख्य जिला मार्ग बनाये गये हैं। इसी तरह, एडीबी के चतुर्थ चरण में दो हजार 61 करोड़ रूपये की लागत से 1365 किलोमीटर सड़कें बनाई गई हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में विभाग द्वारा 23 हजार 395 किलोमीटर लम्बाई के ग्रामीण मार्गों को संधारित किया जा रहा है। नवीन घोषित राष्ट्रीय राजमार्गों के 2 हजार 611 किलोमीटर में क्षतिग्रस्त मार्ग का मजबूतीकरण किया जा रहा है। बैठक में मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए.पी. श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग श्री प्रमोद अग्रवाल, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल, राज्य सड़क विकास प्राधिकरण के प्रबंध संचालक श्री मनीष रस्तोगी, लोक निर्माण विभाग के प्रमुख अभियंता श्री अखिलेश अग्रवाल भी उपस्थित थे।


aa"जियो और जीने दो के सिद्धांत को सर्वमान्य और सर्वव्यापी बनाने समाज आगे आए


3 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने 'जियो और जीने दो'' के सिद्धांत को सर्वव्यापी और सर्वमान्य बनाने के लिए सामाजिक स्तर पर सघन प्रयास करने का आव्हान किया। उन्होंने कहा है कि इस दिशा में समाज में चेतना जागृत करने के लिए प्रबुद्धजन आगे आयें। श्री चौहान आज कैम्पियन स्कूल में श्री जैन श्वेताम्बर सकल समिति भोपाल के तत्वावधान में आयोजित सामूहिक क्षमावाणी कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में क्षमा याचना की और तपस्वी श्री शीतल कोठारी, श्री अशोक नाहटा और श्री विशाल बाफना का सम्मान किया। कार्यक्रम में मुंबई से आये धर्मसेवी श्री गिरीश भाई शाह भी शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने कहा‍कि अहिंसा परमधर्म के सिद्धांत को सभी लोग जीवन में उतार लें, तो विश्व में शाश्वत शांति का दर्शन होगा। सारी उथल-पुथल और झगड़े समाप्त हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि क्षमा वही कर सकता है, जिसने स्वयं को जीत लिया हो, वही महावीर है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर बेटियों को बचाने और पढ़ाने की जरूरत बताई और मुख्यमंत्री मेधावी छात्र योजना की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि महिलाओं के लिए सरकारी नौकरी में आरक्षण की व्यवस्था की गई है। श्री चौहान ने उपस्थितजनों को मुख्यमंत्री निवास में आयोजित होने वाले सामूहिक क्षमावाणी कार्यक्रम में शामिल होने का निमंत्रण दिया। कार्यक्रम के प्रारंभ में प्रभु पार्श्वनाथ की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया और अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट किये गये। इस अवसर पर महापौर श्री आलोक शर्मा, प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष श्री बृजेश लूणावत, सकल संघ सचिव श्री प्रदीप लूनिया, श्री राहुल कोठारी एवं बड़ी संख्या में श्री जैन श्वेताम्बर समाज के सदस्य उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्री बाढ़ वाले गणेश मंदिर में सपरिवार पूजा-अर्चना की


3 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आज विदिशा में बेतवा नदी के किनारे स्थित श्री बाढ़ वाले गणेश मंदिर में सपरिवार पहुंचकर पूजा-अर्चना की तथा सुन्दरकांड का पाठ किया। श्री चौहान ने धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह के साथ मंदिर में चल रहे हवन यज्ञ में शामिल होकर पूर्णाहूतियां दी। मुख्यमंत्री ने मंदिर में आयोजित भण्डारे में कन्याओं को भोजन-प्रसादि परोसी। लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह राजपूत, राज्यमंत्री श्री सूर्यप्रकाश मीणा, विदिशा नगरपालिका अध्यक्ष श्री मुकेश टण्डन, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री तोरण सिंह दांगी, कॉ-आपरेटिव बैंक के अध्यक्ष श्री श्यामसुन्दर शर्मा समेत अन्य जन-प्रतिनिधि और गणमान्य नागरिक इस अवसर पर मौजूद थे।
भोजन-दान सबसे बड़ा दान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विदिशा में सार्वजनिक भोजनालय के 35वें स्थापना दिवस में कहा कि भूखे को भोजन कराना आज के युग का सबसे बड़ा दान है। समाजसेवियों द्वारा अनवरत अनेक वर्षो से इस काम में समर्पित सहयोग दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अस्पताल परिसर में मरीजों के परिजनों को एक रूपए की दर पर स्वादिष्ट भोजन कराना अपने आप में अदभुत कार्य है। श्री चौहान ने इस अवसर पर बताया कि प्रदेश में दीनदयाल रसोई योजना शुरू करने की प्रेरणा इसी सार्वजनिक भोजनालय से मिली थी। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में उपस्थित पद्मश्री से सम्मानित श्री संजीव कपूर से कहा कि वे प्रदेश के व्यंजनों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहुंचाने में मदद करें। सरकार उनकी हर संभव मदद करेगी। पद्मश्री श्री संजीव कपूर ने इस मौके पर कहा कि कोई भी संस्था इतने स्नेह से भोजन कराते हुए मुझे आज तक नहीं दिखी। इस प्रकार के सार्वजनिक भोजनालयों की संख्या और बढ़नी चाहिए। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के लिए मैं कुछ कर सकूं, ये मेरा सौभाग्य होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम में स्वास्थ्य सेवाओं पर आधारित आफ्टर गॉड पुस्तिका का विमोचन किया। कार्यक्रम में संस्था के अध्यक्ष श्री मोहन अग्रवाल, पदाधिकारी, जनप्रतिनिधि और गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।


aaतीर्थों के दर्शन का पुन: अवसर मिलेगा


3 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि तीर्थ-दर्शन यात्रा के 5 वर्ष पूरे करने वाले यात्रियों को तीर्थ-दर्शन का पुन: अवसर मिलेगा। योजना में प्रति वर्ष दो लाख श्रद्धालुओं को तीर्थ-दर्शन करवाया जाएगा। रेलगाड़ियों की संख्या आवश्यकता अनुसार बढ़ाई जाएगी। तीर्थ-यात्रियों को यात्रा के दौरान आवश्यक वस्तुओं का किट दिया जाएगा। गंतव्य तीर्थ के ऐतिहासिक, सांस्कृतिक महत्व की जानकारियों का ब्रोशर मिलेगा। तीर्थ-यात्राओं के रूट में प्रमुख तीर्थ के साथ निकटवर्ती तीर्थों को भी संयोजित किया जाएगा। पैकेज बनाकर यात्राओं का आयोजन किया जाएगा। विधायक यदि श्रद्धालुओं के साथ तीर्थ यात्रा पर जाना चाहेंगे तो, उन्हें यात्रा में सम्मिलित किया जाएगा। धर्माचार्यों के साथ चर्चा कर और तीर्थों को भी शामिल किया जाएगा। श्री चौहान आज यहाँ रवीन्द्र भवन के मुक्ताकाश में मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना के 5 वर्षों की पूर्णता पर आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने समयानुसार सुविधाओं की दृष्टि से यात्रा को और अधिक बेहतर बनाने के लिए विचार-विनिमय कर आवश्यक बदलाव करने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि तीर्थ-दर्शन योजना का उद्देश्य बुजुर्गों को भक्ति के आनंद के अवसर उपलब्ध कराना है। तीर्थ स्थान धर्म के केन्द्र हैं। यहाँ मन और बुद्धि पवित्र होती है। सद्कर्मों की प्रेरणा मिलती है। तीर्थ-दर्शन से मिलने वाला सुख किसी भी सांसारिक सुख से नहीं मिलता है। इसीलिए मुख्यमंत्री निवास में सभी धर्मों के पर्व धूमधाम से मनाए जाते हैं। धर्म से ही सच्चा आनंद मिलता है। उन्होंने कहा कि बुजुर्गों का सम्मान भारतीय संस्कृति का मूल है। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम के प्रारम्भ में तीर्थ-यात्रियों के सम्मान में प्रतीक स्वरूप 5-5 बुजुर्ग महिला-पुरूष तीर्थ-यात्रियों को पुष्प-गुच्छ भेंटकर सम्मानित किया, उनसे चर्चा कर योजना के अनुभवों की जानकारी ली। योजना के सफल संचालन के लिए विभाग को बधाई दी। धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री श्रीमती यशोधराराजे सिंधिया ने बताया कि 5 वर्षों की योजना अवधि में 5 लाख 3 हजार बुजुर्गों ने तीर्थ-दर्शन किये हैं। तीर्थों के दर्शन के लिए 503 रेल यात्राओं का आयोजन किया गया। उन्होंने कहा कि जिन्होंने कभी तीर्थों के दर्शन की कल्पना भी नहीं की थी, उनको तीर्थों के दर्शन करवा कर प्रदेश सरकार बुजुर्ग माता-पिता के लिए श्रवण कुमार का कार्य कर रही है। महंत श्री चन्द्रमा दास ने कहा कि तीर्थ-दर्शन की इच्छा हर व्यक्ति की होती है। साधन विहीनों को तीर्थ-यात्रा करवाने का सरकार का प्रयास सराहनीय है। उन्होंने सरकार की पहल के लिए सभी धर्मगुरूओं की ओर से आभार ज्ञापित किया। कार्यक्रम के प्रारंभ में मध्यप्रदेश गान का गायन हुआ। समारोह में सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग, सांसद श्री आलोक संजर, महापौर श्री आलोक शर्मा, विधायक सर्वश्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, विष्णु खत्री, रामेश्वर शर्मा एवं श्री बृजेश लूणावत, सभी धर्मों के धर्मगुरू और योजना अंतर्गत तीर्थ-यात्रा कर चुके वरिष्ठ नागरिक उपस्थित थे।


aaनिर्धन और असहाय वर्ग को न्याय दिलाने आगे आएं अभिभाषक


3 September 2017

जनसम्पर्क, जल-संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने अभिभाषकों से कहा है कि गरीब और कमजोर वर्ग के व्यक्तियों को न्याय दिलाने के लिए आगे आएं। जरूरतमंद को मुफ्त कानूनी सलाह भी दें। जनसम्पर्क मंत्री आज दतिया में जिला अभिभाषक संघ के शपथ ग्रहण समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने पदाधिकारियों को नए दायित्व के लिये शुभकामनाएँ देते हुए नये कलेक्ट्रेट भवन में अभिभाषकों के लिए सामुदायिक भवन निर्माण की घोषणा की। जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्रीमती सुनीता यादव ने नव-निर्वाचित जिला अभिभाषक संघ के पदाधिकारियों को शपथ दिलाई। कार्यक्रम में सांसद डॉ. भागीरथ प्रसाद, म.प्र. स्टेट बार काउंसिल के सदस्य सर्वश्री जयप्रकाश मिश्रा, जितेन्द्र शर्मा, प्रबल प्रताप सिंह सोलंकी, अंकुर मोदी, विशेष न्यायाधीश श्री डी.के. श्रीवास्तव, ए.डी.जे. श्री हितेन्द्र द्विवेदी और श्रीमती रेखा मरकाम शामिल हुए।


aaएकात्म मानववाद ही जीवन के सभी सुखों का मूलमंत्र


2 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज रीवा में अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय के स्वर्ण जयंती वर्ष के अवसर पर आयोजित कुशाभाऊ ठाकरे स्मृति व्याख्यान माला में कहा कि एकात्म मानववाद ही जीवन के सभी सुखों का मूलमंत्र है। श्री चौहान ने 'एकात्म मानववाद-उत्कृष्ट भारत विषय' पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रकृति को आत्मसात कर नवीन भारत के निर्माण का संकल्प पूरा किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय ने एकात्म मानववाद का जो सिद्धान्त दिया, वह समाज के अन्तिम छोर तक के व्यक्ति के हित में कार्य करने का है। हमारे लोकतंत्र में भी 'जनता का-जनता के लिये' सिद्धान्त लागू किया गया और इसी का प्रतिफल है सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा। श्री चौहान ने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय ने सिखाया था कि हम अपने भारतीय दर्शन, विचार और सोच पर चलकर सुखी रह सकते हैं। शरीर, मन, बुद्धि, आत्मा का सुख मनुष्य को सुखी बनाता है। उन्होंने कहा कि उत्कृष्ट भारत के निर्माण के लिये आर्थिक सशक्तीकरण आवश्यक है। इसलिये हमें जीडीपी ग्रोथ रेट बढ़ाने के प्रयास करना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने देश के आर्थिक सुदृढ़ीकरण हेतु महत्वपूर्ण योजनाएं प्रारंभ की हैं। म.प्र. में भी इस प्रकार के अभियान एवं कार्यक्रम तथा योजनाएं संचालित की जा रही हैं ताकि प्रदेश को साधन सम्पन्न बनाया जा सके। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय में बघेली भाषा प्रकोष्ठ, कुशाभाऊ ठाकरे विद्या केन्द्र, पं. दीनदयाल उपाध्याय शोध केन्द्र खोलने एवं विश्वविद्यालय में संचालित आनंद विभाग के विधिवत संचालन की घोषणा की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने 9 करोड़ 61 लाख रूपये लागत के निर्माण कार्यों की आधारशिला रखी। श्री चौहान ने विश्वविद्यालय प्रांगण में पौधारोपण भी किया। व्याख्यान माला में विषय प्रवर्तन करते हुए वरिष्ठ चिंतक एवं समाज सेवी श्री भगवत शरण माथुर ने लोगों का आव्हान किया कि एकात्म मानववाद के माध्यम से उत्कृष्ट भारत के निर्माण में सहभागी बनें। स्व. दीनदयाल उपाध्याय ने आध्यात्मिक वर्ण व्यवस्था के आधार पर दरिद्र नारायण की सेवा को ही मूल आधार माना था, यही शाश्वत सत्य है। कार्यक्रम के प्रारंभ में कुलपति ने विश्वविद्यालय में संचालित गतिविधियों की जानकारी दी। प्रो.एस.एल. अग्रवाल ने कुशाभाऊ ठाकरे के जीवन परिचय का वाचन किया। कार्यक्रम में उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल, सांसद श्री जनार्दन मिश्रा, महापौर सुश्री ममता गुप्ता, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री अभय मिश्रा, विधायक श्रीमती नीलम मिश्रा, श्री नारायण त्रिपाठी, श्री रामलाल रौतेल, गणमान्य नागरिक, प्रबुद्धजन एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित थे। कार्यक्रम के समापन पर अतिथियों को शाल श्रीफल एवं प्रतीक चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया गया।


aaसहकारिता विभाग में कैडर सिस्टम लागू होगा : राज्य मंत्री श्री सारंग


2 September 2017

सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने कहा है कि सहकारिता विभाग में कैडर सिस्टम लागू किया जाएगा। इससे कर्मचारियों की पदोन्नति के रास्ते खुलेंगे और उनकी कार्य-प्रणाली में पारदर्शिता आएगी। राज्य मंत्री श्री सारंग आज मण्डला में सहकारिता प्रतिनिधियों के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। राज्य मंत्री श्री सारंग ने सम्मेलन में कहा कि जन-कल्याण की भावना के साथ सहकारिता अब जन-आंदोलन बनता जा रहा है। प्रदेश के विकास में सहकारिता की भूमिका महत्वपूर्ण है। प्रदेश सरकार सहकारिता के माध्यम से कृषि को लाभ का धंधा बनाने के लिये संकल्पित है। किसानों को सक्षम बनाने के लिये सरकार द्वारा केवल शून्य प्रतिशत ब्याज पर ऋण ही उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है बल्कि दिये गये ऋण पर 10 प्रतिशत का अनुदान भी दिया जा रहा है। इसके सार्थक परिणाम सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि आवश्यकतानुसार गोदाम एवं समिति कार्यालयों का निर्माण कराया जायेगा। सम्मेलन में राज्यसभा सांसद श्रीमती सम्पतिया उइके, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती सरस्वती मरावी, विधायक श्री रामप्यारे कुलस्ते, श्री रतन ठाकुर, जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री शैलेष मिश्रा, सहकारी बैंक के अध्यक्ष श्री शोभित मरावी सहित अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aa"उत्तरा" एप से होगा राजस्व विभाग से संबंधित समस्याओं का निराकरण


2 September 2017

राजस्व विभाग से संबंधित समस्याओं के त्वरित निराकरण के लिये 'उत्तरा' एप बनाया गया है। इस एप के माध्यम से सीमांकन, बटांकन, नामांतरण, जाति प्रमाण-पत्र सहित अन्य आवेदन ऑन-लाइन किये जा सकेंगे। प्राप्त आवेदनों को समय-सीमा में निराकृत कर आवेदक को रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर पर मेसेज भी किया जाएगा। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने एप की कार्य-प्रणाली के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि विभिन्न आवेदनों के साथ लगने वाले दस्तावेजों की जानकारी भी एप में उपलब्ध हो।
'उत्तरा' एप
जिला कलेक्टर इस एप के माध्यम से जिले में राजस्व विभाग के लम्बित, प्रचलित और निरस्त आवेदनों की स्थिति एक साथ देख सकेंगे। लम्बित आवेदनों के संबंध में जरूरी निर्देश संबंधित अधिकारियों को दे सकेंगे। प्रभारी अधिकारी भी श्रेणीवार निराकृत एवं लम्बित आवेदनों की स्थिति की जानकारी ऑन-लाइन प्राप्त कर उस पर जरूरी कार्यवाही कर सकेंगे। 'उत्तरा' एप में श्रेणीवार आवेदनों के डेश-बोर्ड के अतिरिक्त पटवारी के लिये एक अतिरिक्त डेश-बोर्ड दिया गया है। इसमें सीमांकन बटांकन, नामांतरण, जाति प्रमाण-पत्र सहित इनसे संबंधित सभी आवेदन उपलब्ध रहेंगे। इन आवेदनों पर पटवारी द्वारा समय-सीमा में कार्यवाही कर ऑन-लाइन अपलोड की जाएगी। विवरण सूची में दिये गये रिप्लाई बटन पर क्लिक करके संबंधित अधिकारी द्वारा आवेदन पर की गई कार्यवाही की जानकारी दी जायेगी।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान से ब्रिटिश हाई कमीशन के प्रतिनिधि मंडल ने की भेंट


1 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से आज ब्रिटिश हाई कमीशन के प्रतिनिधि मण्डल ने भेंट की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने भारत और ब्रिटेन के कॉमनवेल्थ के अन्तर्गत प्रगाढ़ रिश्तों का जिक्र करते हुए प्रदेश में शहरी गरीब बस्तियों के उन्नयन और शिक्षा के क्षेत्र में ब्रिटिश हाई कमीशन के साथ पारस्परिक सहयोग को और अधिक मजबूत बनाने की आवश्यकता प्रतिपादित की। श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने दोनों देशों के संबंधों को मजबूत बनाने के प्रयासों को नई दिशा दी है। श्री चौहान ने ब्रिटिश हाई कमीशन से भेंट के दौरान बताया कि सांस्कृतिक, शैक्षणिक, खेल और पर्यटन गतिविधियों में सहयोग की अपार संभावनाएँ हैं। प्रदेश में विकास दर दस प्रतिशत तक पहुंच गई है। विगत 5 वर्षों से कृषि विकास दर औसतन 20 प्रतिशत बनी हुई है। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के वर्ष 2022 तक नये भारत के निर्माण की अवधारणा अनुसार मध्यप्रदेश के नव-निर्माण के प्रयासों का जिक्र करते हुए बताया कि मध्यप्रदेश में सभी वर्गो का आर्थिक विकास सुनिश्चित करने कोशिशें जारी हैं। प्रदेश में महिला सशक्तिकरण की विशेष पहल हुई है। स्थानीय निकायों में महिलाओं के लिए 50 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की गई है। इसके फलस्वरूप 56 प्रतिशत महिलाएँ निर्वाचित हुईं हैं। महिलाओं को शासकीय सेवाओं में (वन विभाग को छोड़कर) 33 प्रतिशत और शिक्षक के पदों पर 50 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है। इन प्रयासों से सत्ता में महिलाओं की भागीदारी बढ़ी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि लाड़ली लक्ष्मी जैसी योजनाएँ प्रदेश में चलाई गई हैं ताकि महिलाओं का आत्मविश्वास बढ़े और सामाजिक सोच में बदलाव आये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए समाज को जोड़ने की पहल में 'मिल बाँचे मध्यप्रदेश' कार्यक्रम का उल्लेख करते हुए बताया कि 2 लाख 15 हजार से अधिक प्रबुद्धजन स्वत: ही स्कूलों और बच्चों से जुड़े हैं। इन लोगों ने स्कूलों की व्यवस्था को बेहतर बनाने में सहयोग भी दिया है। इनमें राजनेता, पत्रकार, अधिकारी, व्यवसायी और व्यापारी सभी शामिल हैं। श्री चौहान ने शिक्षा के क्षेत्र में मिलकर कार्य करने की संभावनाओं पर प्रकाश डालते हुए कहा कि अंग्रेजी के ज्ञान से रोजगार की वैश्विक संभावनाएँ बढ़ती है। राज्य के ग्रामीण अंचलों में इस दिशा में बहुत कार्य किया जा सकता है। विश्वविद्यालयों को उत्कृष्टतम बनाने की कोशिशें की जा रही हैं। इंदौर विश्वविद्यालय को उत्कृष्ट बनाया जा रहा है। पर्यटन के क्षेत्र पर फोकस करते हुए मुख्यमंत्री ने प्रदेश की सांस्कृतिक और ऐतिहासिक समृद्धता का जिक्र किया। ब्रिटिश हाई कमीशन के मिनिस्टर ऑफ कल्चर अफेयर्स श्री एलन गेममेल ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को बताया कि वे दूसरी बार भोपाल आये हैं। जनजातीय संग्रहालय देख कर अत्यंत प्रभावित हैं। उन्होंने संग्रहालय को विश्व के सर्वोत्कृष्‍ट संग्रहालयों जैसा बताया। श्री गेममेल ने प्रदेश में ब्रिटिश पर्यटकों को आमंत्रित करने में सहयोग का आग्रह किया। उच्च शिक्षा में अंग्रेजी शिक्षण प्रणाली, शोध और प्राथमिक शिक्षकों के अंग्रेजी प्रशिक्षण में किये जा रहे सहयोग के बारे में भी बताया। उन्होंने न्यायालयीन प्रणाली, प्रशासन तंत्र और पर्यटन से जुड़े अमले के लिए अंग्रेजी के कौशल उन्नयन की परियोजनाओं की जानकारी दी तथा इन क्षेत्रों में राज्य सरकार से सहयोग की अपेक्षा की। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में विकास और सामाजिक सुरक्षा की योजनाओं की प्रगति से प्रतिनिधि मंडल अत्यंत प्रभावित है। प्रतिनिधि मंडल में ब्रिटिश डिप्टी हाई कमीशन की डायरेक्टर वेस्ट इंडिया सुश्री हेलन सिलवेस्टर, सीनियर रीजनल एडवाइजर मध्यप्रदेश श्री यश मेहरा, पार्टनरशिप हेड श्री वर्णन डिसूजा भी शामिल थे।


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने मेधावी विद्यार्थियों को किया सम्मानित


1 September 2017

राजस्व, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा है कि विद्यार्थी क्लास-रूम के साथ ही शिक्षक के हाव-भाव से भी सीखता है। श्री गुप्ता ने कस्तूरबा हायर सेकेण्डरी स्कूल में वार्ड-25 के कक्षा 10 और 12 में 75 प्रतिशत अंक के साथ उत्तीर्ण मेधावी विद्यार्थियों को सम्मानित किया। श्री गुप्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना में 12वीं में माध्यमिक शिक्षा मण्डल के स्कूलों से 75 प्रतिशत और सीबीएसई की स्कूलों में 85 प्रतिशत से अधिक अंकों से उत्तीर्ण होने वाले विद्यार्थियों की कॉलेजों की फीस सरकार देगी। उन्होंने कहा कि शिक्षकों के प्रति बच्चों के मन में विश्वास होना जरूरी है। उत्तीर्ण होने के लिए 33 प्रतिशत लेकिन पढ़ाने के लिए 100 प्रतिशत ज्ञान जरूरी है। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा प्रदेशवासियों को ईदुज्जुहा की बधाई


1 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेशवासियों को ईदुज्जुहा की बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं। श्री चौहान ने संदेश में कहा है कि ईदुज्जुहा ईश्वर के प्रति विश्वास और समर्पण का पर्व है। यह पर्व सबको साथ लेकर चलने, त्याग और बलिदान का पैगाम देता है। यह समाज में सहानुभूति और भाईचारे का प्रतीक है। यह पर्व सच्‍चाई और दया के मूल्यों को बढ़ावा देने का अवसर है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेशवासियों से ईदुज्जुहा के पर्व को सौहार्दपूर्ण वातावरण में मनाने की अपील की है।


aaजनसम्‍पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने दी ईदुज्जुहा की बधाई


1 September 2017

जनसम्‍पर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने प्रदेशवासियों को ईदुज्जुहा पर्व की बधाई और शुभकामनाएँ दी है। डॉ. मिश्र ने संदेश में कहा है कि यह त्यौहार आपसी प्रेम और भाईचारे का प्रतीक है।


aaसहरिया, भारिया, बैगा जनजाति के युवाओं हेतु पुलिस आरक्षक भर्ती का विशेष अभियान चलेगा - मुख्यमंत्री श्री चौहान


1 September 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सहरिया, भारिया और बैगा जनजाति के युवाओं के लिये पुलिस आरक्षक भर्ती का विशेष अभियान चलाया जायेगा। व्यापम की लिखित परीक्षा से छूट मिलेगी। अभ्यार्थियों का मेरिट के आधार पर चयन होगा। इन्हें खदानों का संचालन भी सौंपा जाएगा। इनकी जमीनों से अवैध कब्जा हटाने और इन्हें पक्के मकान उपलब्ध कराने का भी अभियान चलाया जाएगा। इनके लिये अलग से रोजगार मेले भी आयोजित किये जाएंगे। मुख्यमंत्री आज यहां अपने निवास पर सहरिया, भारिया और बैगा संगठन के सदस्यों को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर कहा है कि विकास की दौड़ में पीछे रह गए इस संगठन के लोगों के साथ सरकार है। इन्हें मान-सम्मान के साथ जीवन यापन के सभी अवसर उपलब्ध कराने में सरकार पीछे नहीं रहेगी। श्री चौहान ने इस संगठन को निरंतर मजबूत बनाने का आव्हान किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में उपलब्धतानुसार आश्रमों और छात्रावासों के अधीक्षक और वार्डन अनुसूचित जनजाति के ही नियुक्त होंगे। वनोपज समर्थन मूल्य पर खरीदने की व्यवस्था की जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री ने बताया कि चरण पादुका योजना के अंतर्गत अनुसूचित जनजाति के वनोपज संग्राहक भाईयों को जूते और बहनों को चप्पलें तथा जंगल में ठंडे पीने के पानी के लिये थर्मल कुप्पी भी दी जा रही है। श्री चौहान ने कहा कि पालपुर कूनो अभ्यारण के विस्थापित 28 गांवों के मुआवजे से वंचित निवासियों को आगामी दो माह में मुआवजा दिलवाया जाएगा। संभागायुक्त इसकी मॉनीटिरिंग करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सहरिया-भारिया और बैगाओं की जमीन पर अवैध कब्जों को बलपूर्वक हटाया जाएगा। इसके लिये विशेष अभियान चलेगा। खनिज का अवैध परिवहन बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। राज्य सरकार ऐसी व्यवस्था बनवा रही है कि खदानों का संचालन अनुसूचित जनजाति के द्वारा किया जाए ताकि युवाओं को रोजगार मिले। इसके लिये विशेष प्रावधान करवाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि अगर अनुसूचित जनजाति के गरीब व्यक्तियों को कर्ज के जाल में फँसाकर उनकी हड़पी गई भूमि की जानकारी मिलेगी तो उनको तत्काल भूमि वापस दिलवा दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि मदिरा के अवैध विक्रय को सख्ती के साथ प्रतिबंधित किया जाएगा। अवैध रूप से मदिरा का विक्रय करने वालों को कठोर सजा मिलेगी। नशामुक्त समाज निर्माण का अभियान भी चलाया जाएगा। जबरन मजदूरी की जानकारी मिलने पर सख्त कार्रवाई होगी। श्री चौहान ने कहा कि गरीबी दूर करने के लिये केवल सरकारी नौकरी और खेती पर निर्भर नहीं रहा जा सकता। जरूरी है कि पशुपालन और अन्य उद्योग, व्यवसायों में भी रोजगार निर्मित हो। युवा आईटीआई का प्रशिक्षण भी प्राप्त करें ताकि उनके लिये रोजगार और स्वरोजगार के नये अवसर निर्मित हों। उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना संचालित की गई है, जिसमें 50 हजार से लेकर 10 लाख रुपये तक का ऋण सरकार की गारंटी पर दिया जा रहा है। पंद्रह प्रतिशत अनुदान और पांच वर्षों तक पांच प्रतिशत ब्याज सब्सिडी भी दी जाती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोशिश है कि जनजाति वर्ग युवा नौकर नहीं, नौकरी देने वाले बनें। उन्होंने कहा कि श्योपुर अथवा कराहल में शीघ्र ही सम्मेलन कर भारिया, सहरिया और बैगा जनजातियों की आशाओं और अपेक्षाओं की विस्तृत जानकारी प्राप्त की जाएगी।


aaउद्योग मंत्री श्री शुक्ल द्वारा ईदुज्जुहा की बधाई एवं शुभकामनाएँ


1 September 2017

वाणिज्य, उद्योग एवं रोजगार तथा खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने ईदुज्जुहा के मौके पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं। श्री शुक्ल ने संदेश में कहा है कि ईदुज्जुहा त्याग और समर्पण का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि यह त्यौहार हमें आपसी सदभाव और प्रेम का संदेश देता है। उद्योग मंत्री ने प्रदेशवासियों से ईदुज्जुहा का त्यौहार सौहार्द्रपूर्ण वातावरण में मनाने की अपील की है।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान से सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक ने की भेंट


31 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक श्री के.के. शर्मा ने आज मुख्यमंत्री निवास में भेंट की। उन्होंने मुख्यमंत्री को सीमा सुरक्षा बल अकादमी टेकनपुर में आयोजित होने वाली महानिदेशक/महानिरीक्षक कान्फ्रेंस और अकादमी की दीक्षांत परेड में शामिल होने के लिये आमंत्रित किया। इस अवसर पर विशेष महानिदेशक सीमा सुरक्षा बल श्री ए.पी महेश्वरी एवं अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने माडल स्कूल के छात्र-संघ पदाधिकारियों को शपथ दिलायी


31 Aug 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने माडल हायर सेकेण्डरी स्कूल तात्या टोपे नगर, भोपाल के नव-निर्वाचित छात्र-संघ पदाधिकारियों को शपथ दिलायी। श्री गुप्ता ने इन्हें बैच लगाया और स्लेश भी पहनाया। छात्र परिषद में श्री उत्कृर्ष तिवारी हेड ब्वाय, कु. अंकिता विरले हेडगर्ल, श्री वीरेन्द्र सिंह वाइस हेड ब्वाय और कु. हर्षिता चौहान वाइस हेड गर्ल निर्वाचित हुई हैं। राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने कहा कि लक्ष्य निश्चित हो, नियत साफ हो और परिश्रम का माद्दा हो, तो सफल होने से कोई नहीं रोक सकता। उन्होंने छात्र संघ के पदाधिकारियों से कहा कि विद्यार्थियों से जो वायदा किया हो उसे जरूर पूरा करना। इसमें जरूरत पड़ी तो मैं भी मदद करूंगा। श्री गुप्ता ने कहा कि माडल स्कूल के छात्र रहे प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने दृढृ निश्चय से प्रदेश का समग्र विकास सुनिश्चित करने में सफलता अर्जित की है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में कृषि विकास दर और जीडीपी में भी उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। श्री गुप्ता ने शिक्षक श्री मगवानी की स्मृति में दैनिक भास्कर समूह द्वारा प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को दिये जाने वाले पुरस्कार भी वितरित किये। उन्होंने श्री रजनीश, श्री ऋतिक वर्मा, कु. अंजली चौधरी, कु. मोहनी सोनी, श्री केशव वर्मा, श्री शिवांश गुप्ता, कु. श्वेता जादौन और कु. काजल जैन को पुरस्कृत किया। नगर निगम भोपाल के अध्यक्ष डॉ. सुरजीत सिंह चौहान ने निर्वाचन प्रक्रिया की सराहना की। प्राचार्य श्री श्याम कुमार रेनीवाल ने स्कूल की गतिविधियों की जानकारी दी। विद्यार्थियों ने सांस्कृति कार्यक्रम प्रस्तुत किये।


aaगणेशोत्सव के मौके पर मिली श्री गणेश की दुर्लभ प्रतिमा


31 Aug 2017

देशभर में इन दिनों गणेशोत्सव की धूम है। इस दौरान पुरातत्व विभाग को श्री गणेश की प्राचीन दुर्लभ प्रतिमा मिली है। यह प्रतिमा रायसेन जिले के ग्राम ढ़ावला (ग्राम पंचायत हर्रई) में मलबा-सफाई के दौरान मिली। श्री गणेश के साथ ही भगवान शिव, विष्णु, देवी, भैरव, जेन चतुष्टिका प्रतिमा के अलावा पहाड़ी पर 4 मंदिरों के अवशेष भी प्रकाश में आये हैं। इनमें मंदिरों के केवल नीचे के भाग सुरक्षित हैं। पुरातत्व आयुक्त श्री अनुपम राजन ने यह जानकारी देते हुए बताया कि सफाई के दौरान मिली प्राचीन प्रतिमा 11वीं शती ई. से 13वीं शती ई. के मध्य की हैं। गाँव की लगभग 50 फीट ऊँची पहाड़ी पर भगवान शिव का प्राचीन मंदिर है। इसके गर्भ-गृह में शिवलिंग एवं जलाधारी भी प्रकाश में आये हैं। श्री राजन ने बताया कि विभाग में गठित तकनीकी दल द्वारा करवाई गई मलबा-सफाई के समय प्राचीन मंदिर के भाग यथा- द्वार शाखा, सिरदल, जंघा, शिखर भागों के साथ-साथ कई अन्य मूर्तियाँ भी मिली हैं। पुरातत्व आयुक्त ने तकनीकी दल के अधिकारी डॉ. रमेश यादव, संग्रहाध्यक्ष राजगढ़ श्री जी.पी. सिंह, पुरातत्ववेत्ता श्री आशुतोष उपरीत, पुराविद सर्वश्री योगेश पाल एवं डॉ. अहमद अली को प्राचीन मं‍दिरों एवं दुर्लभ प्रतिमा खोज निकालने के लिये बधाई दी है। पुरातत्व आयुक्त श्री राजन ने प्रकाश में आये मंदिरों को मूल स्वरूप में लाने के लिये अनुरक्षण कार्य शीघ्र प्रारंभ करवाने के निर्देश दिये हैं।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान की सहृदयता से अजय कुमार को फिर मिला आरक्षक भर्ती परीक्षा देने का मौका


30 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेश में अपनी सहृदयता और उदारता के लिये पहचाने जाते हैं। मुख्यमंत्री की इस सहृदयता से पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा दिनांक 23 अगस्त 2017 में शामिल नहीं हो सके अजय कुमार को फिर एक मौका मिला है। अजय कुमार दिनांक 23 अगस्त 2017 को 5 मिनिट लेट होने के कारण पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल नहीं हो सके। अजय ने मुख्यमंत्री को मेल के माध्यम से अपनी व्यथा बताई। साथ ही यह निवेदन भी किया कि उसे व्यावसायिक परीक्षा मंडल द्वारा आयोजित की जानेवाली आगामी परीक्षा में सम्मिलित होने का मौका दिया जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अजय कुमार की व्यथा को समझा और तकनिकी शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव को निर्देश दिये कि अजय कुमार सहित इस तरह के अन्य उम्मीदवारों को पुन: परीक्षा देने का अवसर दिया जाये। मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार तकनिकी शिक्षा विभाग ने अब यह सुनिश्चित किया है कि आगामी 19/20 सितम्बर को व्यावसायिक परीक्षा मंडल द्वारा पुन: परीक्षा आयोजित की जाएगी। इस परीक्षा में वे सभी पात्र उम्मीदवार शामिल हो सकेंगे, जो विगत 19 से 23 अगस्त 2017 के बीच 5 दिन के दौरान आयोजित परीक्षा में किसी कारण से शामिल नहीं हो सके हैं। ऐसे समस्त‍उम्मीदवारों के लिये नये परीक्षा प्रवेश-पत्र जारी किये जा रहे हैं। यह उम्मीदवार परीक्षा के 10 दिन पहले तक व्यावसायिक परीक्षा मंडल की वेबसाइट से अपने नये परीक्षा प्रवेश-पत्र डाउनलोड कर सकते हैं। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की इस सहृदयतापूर्ण कार्यवाही से अजय कुमार गदगद हैं। अजय कुमार ने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया है और पूरे मनोयोग से परीक्षा की तैयारी में जुट गया है


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने भीमनगर में किया आँगनवाड़ी केन्द्र का लोकार्पण


30 Aug 2017

राजस्व विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने आज यहाँ वार्ड-33 स्थित भीमनगर में आँगनवाड़ी केन्द्र के नवनिर्मित भवन का लोकार्पण किया। श्री गुप्ता ने बालिकाओं को लाड़ली लक्ष्मी योजना के प्रमाण-पत्र भी बाँटे। राजस्व मंत्री ने इस अवसर पर बताया कि प्रदेश में लगभग 37 लाख लाड़ली लक्ष्मी हैं। दक्षिण-पश्चिम विधानसभा क्षेत्र में 2600 और वार्ड 35 में 1200 लाड़ली लक्ष्मी हैं। श्री गुप्ता ने कहा कि प्रत्येक घर में शौचालय बनवाया जायेगा। जिन घरों में शौचालय के लिए जगह नहीं है, उनके घर के नजदीक सुलभ शौचालय बनवाये जायेंगे। उन्होंने मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना के बारे में भी बताया। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaगवर्मेंट ई-मार्केट प्लेस में शासकीय प्रयोजन की 480 सामग्री उपलब्ध


30 Aug 2017

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग विभाग द्वारा शासकीय संस्थाओं में गवर्मेंट ई-मार्केट प्लेस (जीईएम) के उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिये आज प्रशासन अकादमी, भोपाल में कार्यशाला आयोजित की गई। कार्यशाला में भारत सरकार के वाणिज्य मंत्रालय के डायरेक्टर जनरल ऑफ सप्लाई डिस्पोजल (डी जी एण्ड डी) श्री राजेश जैन ने जीईएम पोर्टल का प्रेजेटेंशन किया। इस अवसर पर श्री राजेश जैन ने बताया कि जी.ई.एम. पोर्टल डेव्हलप होने के 6 माह से भी कम अवधि में ही ई-प्रोक्योरमेंट के जरिए विभिन्न मंत्रालय, विभाग, निगम एवं मंडल में 400 करोड़ रुपये की शासकीय उपयोग में आने वाली सामग्री खरीदी गई। इस पोर्टल के जरिए सभी शासकीय विभाग, निगम, मंडल के कार्यालयीन उपयोग में आने वाली विभिन्न प्रकार की 480 सामग्री वाजिब कीमत पर खरीदी जा सकती है। कार्यशाला में पोर्टल के माध्यम से सामग्री खरीदी के लिए रजिस्ट्रेशन, वस्तु माँग और भुगतान आदि की प्रक्रिया की बारीकियों के बारे में भी बताया गया। कार्यशाला में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग के प्रमुख सचिव श्री व्ही.एल. कांताराव ने शासकीय विभाग, निगम एवं मंडल में उपयोग में आने वाली सामग्री खरीदने की प्रक्रिया से अवगत कराया। भोपाल स्थित सभी विभाग, निगम एवं मंडल के अधिकारी/प्रतिनिधि मौजूद थे


aaप्रदेश में किसानों के लिये भावान्तर भुगतान योजना लागू करने का निर्णय


29 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में प्रदेश में किसानों के हित संरक्षण के लिये भावान्तर भुगतान योजना लागू करने का निर्णय लिया गया। यह योजना किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य दिलाने के लिये पायलेट आधार पर खरीफ 2017 के लिये लागू की गई है। इस निर्णय के अंतर्गत प्रदेश में किसान द्वारा अधिसूचित कृषि उपज मण्डी समिति प्रांगण में फसल विक्रय करने पर राज्य शासन द्वारा निहित प्रक्रिया अनुरूप घोषित मॉडल विक्रय कर एवं भारत सरकार द्वारा घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य के अंतर की राशि का किसानों को भुगतान किया जायेगा। भावान्तर भुगतान योजना में खरीफ 2017 की सोयाबीन, मूंगफली, तिल, रामतिल, मक्का, मूंग, उड़द और तुअर की फसलें ली गई हैं। योजना में किसानों को एक से 30 सितंबर 2017 तक पोर्टल पर अपना पंजीयन कराना होगा। मं‍त्रि-परिषद ने झाबुआ जिले के राजस्व निरीक्षक मण्डल रामा को तहसील बनाये जाने का निर्णय लिया। इसी प्रकार बालाघाट जिले के उपखण्ड बैहर तथा सिवनी जिले के लखनादौन में अपर कलेक्टर न्यायालय/कार्यालय स्थापित करने का निर्णय लिया गया। मंत्रि-परिषद ने रामा तहसील के लिये 13 पद तथा बैहर और लखनादौन अपर कलेक्टर कार्यालय के लिये 10-10 पदों के सृजन को भी मंजूरी दी।
मंत्रि-परिषद ने पुलिस दूर संचार शाखा के 372 पदों के पुनर्वितरण तथा पद-विन्यास का युक्तियुक्तकरण करते हुए तकनीकी ट्रेड के पद निर्मित करने का निर्णय लिया।
मध्यप्रदेश विद्युत नियामक आयोग ने इस वर्ष के टैरिफ आदेश में केप्टिव पावर उपयोगकर्ताओं को विद्युत कंपनी से बिजली क्रय करने पर विद्युत की दर में छूट प्रदान की है। मंत्रि-परिषद द्वारा इस खपत पर राज्य शासन को देय विद्युत शुल्क से इन उपयोगकर्ताओं को छूट प्रदान की गई है। प्रदेश में विद्युत उपलब्धता के दृष्टिगत नए स्थापित होने वाले कैप्टिव पावर संयंत्रों के लिए विद्युत शुल्क से छूट का प्रावधान समाप्त करने का निर्णय लिया है।
प्रदेश की राज्य स्वामित्व की तीनों विद्युत वितरण कंम्पनियों को वित्तीय रूप से साध्य बनाने के लिये लागू की गई वित्तीय पुनर्संरचना योजना में तीन वर्ष की वृद्वि की गई है।
मंत्रि-परिषद ने दीनदयाल 108 एम्बुलेंस सेवा के नाम से प्रचलित आपातकालीन चिकित्सा सेवा के अंतर्गत रोगी परिवहन तथा प्रसूता महिलाओं एवं बीमार बच्चों के परिवहन के लिये उपलब्ध सेवाओं के एकीकृत संचालन की अवधारणा को सुदृढ़ तरीके से क्रियान्वित करने के लिए 108 एम्बुलेंस सेवा, जननी एक्सप्रेस सेवा और दीनदयाल चलित अस्पताल योजना को सम‍न्वित कर निरंतर जारी रखने के लिए वर्ष 2017-18 एवं 2018-19 तथा वर्ष 2019-20 में आकलित राशी रूपये 235.35 करोड़ यथावत जारी रखने का निर्णय लिया।
मं‍त्रि-परिषद ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन को वर्ष 2017-18,2018-19 और वर्ष 2019-20 के लिये जारी रखने के साथ रूपये 8422.86 करोड़ रूपये की सैद्वांतिक सहमति दी।
मं‍त्रि-परिषद ने मध्यप्रदेश मुद्रांक शुल्क प्रभार निधि स्थापित करने का निर्णय लिया। इस निधि में मुद्रांक शुल्क के साथ नगर पालिका/नगर निगम अतिरिक्त शुल्क बतौर ली जाने वाली 2 प्रतिशत राशि में से 1 प्रतिशत राशि अंतरित की जायेगी। इस निधि का उपयोग नगर निगम, नगर पालिका तथा नगर परिषद द्वारा नगरीय क्षेत्रों में अधोसंरचना विकास परियोजनाओं के क्रियान्वयन तथा ऐसी परियोजनाओं के लिए निकायों द्वारा लिये गये ऋण के पुनर्भुगतान के लिए किया जायेगा। मंत्रि-परिषद ने खाद्य प्र-संस्करण इकाइयों को उद्योग संवर्धन नीति 2014 के अनुरूप मण्डी शुल्क से छूट प्रदान करने का निर्णय लिया। मंत्रि-परिषद ने उज्जैन प्रेस क्लब को 25 लाख रूपये का अनुदान दिये जाने का भी निर्णय लिया।


aaमध्यप्रदेश द्वारा बिहार को बाढ़ पीड़ितों के लिये 5 करोड़ रूपये की सहायता


29 Aug 2017

सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने आज पटना में बिहार के मुख्यमंत्री श्री नितीश कुमार को बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए मध्यप्रदश शासन की ओर से 5 करोड़ रूपये की राशि का चेक सौंपा। इस अवसर पर बिहार के उप-मुख्यमंत्री श्री सुशील कुमार मोदी और विधायक श्री संजीव चौरसिया भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देंश पर पटना पहुँचे राज्य मंत्री श्री सारंग ने बिहार के मुख्यमंत्री श्री नितीश कुमार और उप-मुख्यमंत्री श्री सुशील मोदी को मध्यप्रदेश में संचालित किसान कल्याण एवं विकास की विभिन्न योजनाओं की जानकारी भी दी। राज्य मंत्री श्री सारंग ने बिहार राज्य के मुख्यमंत्री श्री नितीश कुमार को बताया कि मध्यप्रदेश में कृषि विकास दर में लगातार वृद्धि हो रही है। पर्यावरण और नदी संरक्षण के लिये मध्यप्रदेश में राज्य सरकार ने सार्थक प्रयास किये हैं। राज्य मंत्री ने मध्यप्रदेश में सहकारिता और उस से जुड़ी संस्थाओं की गतिविधियों को बढ़ाने और ग्रामीण सहकारी साख समितियों को मजबूती देने के लिये संचालित कार्यक्रमों के बारे में भी बताया। राज्य मंत्री ने अन्य विभागों द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं की जानकारी देकर तेजी से आगे बढ़ते मध्यप्रदेश का पक्ष बिहार के मुख्यमंत्री श्री नितीश कुमार के सामने रखा। मुख्यमंत्री श्री नितीश कुमार ने मध्यप्रदेश की विभिन्न योजनाओं की सराहना की और बिहार बाढ़ पीड़ितों के लिये मध्यप्रदेश के सहयोग के लिये धन्यवाद दिया।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने साहसी युवा स्वर्गीय श्री दीपक साहू के पिता को ऑटो की चाबियाँ सौंपी


29 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ अपने निवास प्रांगण में साहसी युवा स्वर्गीय श्री दीपक साहू के पिता श्री कैलाश साहू को जीवन यापन के लिये ऑटो की चाबियाँ सौंपी। उन्होंने श्री कैलाश साहू और उनकी धर्मपत्नी से कहा कि सरकार हर कदम पर सहयोग के लिये तत्पर रहेगी। उल्लेखनीय है कि स्वर्गीय श्री दीपक ने पिछले साल जुलाई माह में भोपाल के राजीव नगर बस्ती में अपनी जान की परवाह किये बिना बाढ़ में फंसे लोगों की जान बचाई। इस दौरान उन्हें खुद अपनी जान गवानी पड़ी। उन्होंने ढ़ाई घंटे में करीब बीस लोगों की जान बचाई। स्वर्गीय श्री दीपक के पिता श्री कैलाश साहू ऑटो चलाते हैं। सागर जिले के सुरखी विधानसभा क्षेत्र की विधायक पारूल साहू ने स्वर्गीय दीपक पिता को जीवनयापन के लिये अपने वेतन से 75 हजार रूपये और साहू समाज के सक्षम लोगों की मदद से ऑटो खरीदकर दिया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्री कैलाश साहू और उनकी धर्मपत्नी से कहा कि वे हर प्रकार से सहायता करेंगे। इस अवसर पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री नंदकुमार सिंह चौहान और पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारीगण उपस्थित थे।


aaमध्यप्रदेश में इंजेक्टेबल गर्भनिरोधक अंतरा और साप्ताहिक टेबलेट छाया का उपयोग शुरू


29 Aug 2017

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री रूस्तम सिंह ने राष्ट्रीय परिवार कल्याण कार्यक्रम के तहत आज प्रदेश में नवीन गर्भनिरोधक साधन-इंजेक्टेबल हारमोन 'अंतरा' और साप्ताहिक ओरल पिल्स 'छाया' के प्रदेश में उपयोग का शुभारंभ किया। श्री सिंह ने बताया कि इंजेक्शन 'अंतरा' और टेबलेट 'छाया' प्रदेश के सभी शासकीय अस्पतालों और स्वास्थ्य केन्दों पर नि:शुल्क उपलब्ध रहेगी। श्री सिंह ने कार्यक्रम में उपस्थित प्रदेश के सभी जिलों के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों से आशा, उषा एवं आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के माध्यम से जन-जन और गाँव-गाँव तक उपयोग सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। चिकित्सा शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री शरद जैन, केन्द्रीय परिवार कल्याण कार्यक्रम उपायुक्त डॉ. एस.के.सिकदर, स्वास्थ्य आयुक्त डॉ. पल्लवी जैन गोविल, मिशन संचालक डॉ. संजय गोयल, संचालक स्वास्थ्य सेवाएँ श्री एस.धनराजू उपस्थित थे। मंत्री श्री सिंह ने बताया कि 'अंतरा' के एक बार लेने के बाद तीन माह और 'छाया' के बाद महिला को एक सप्ताह की सुरक्षा मिल जाती है। दोनों का ही कोई साइड इफेक्ट नहीं है यह स्वास्थ्य के लिए सुरक्षित हैं। श्री सिंह ने बताया कि प्रदेश को 20 हजार 'अंतरा' इंजेक्शन मिल चुके हैं, और 20 हजार जल्दी ही मिल जायेंगे। इसी तरह 25 हजार 'छाया' टेबलेट मिल गई हैं। इनसे प्रजनन क्षमता पर कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ेगा। यह सहज एवं सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि देश-प्रदेश के विकास के लिये यह बहुत जरूरी है कि बढ़ती जनसंख्या पर अंकुश लगे। स्वास्थ्य राज्य मंत्री श्री शरद जैन ने कहा कि राज्य शासन द्वारा इन नवीन गर्भ निरोधक साधनों के उपयोग के लिये कार्ययोजना तैयार कर ली गई है। स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं का प्रशिक्षण भी शुरू हो चुका है। राज्य स्तरीय प्रशिक्षकों को राष्ट्रीय स्तर पर प्रशिक्षण मिला है। श्री जैन ने कहा प्रदेश की डायलिसिस, कीमाथेरेपी, दवा वितरण नि:शुल्क है। विभाग के संचालक डॉ. के.एल. साहू डॉ. के. के. ठस्सू डॉ. जे. एल. मिश्रा और डॉ. बी.एन. चौहान भी कार्यक्रम में मौजूद थे।
स्वाइन फ्लू और डेंगू बचाव का व्यापक प्रचार-प्रसार करें
श्री रूस्तम सिंह ने कार्यक्रम में उपस्थित प्रदेश के सभी जिलों के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों से कहा कि वे लोगों को स्वाइन फ्लू और डेंगू से बचाने के लिये व्यापक प्रचार-प्रसार करें। लोगों को सतर्कता के उपाय बताते हुए जागरूक करें। संक्रमण की तीव्रता देखते हुए 48 घटें के भीतर इलाज शुरू कर दें। हर वक्त दवाईयों, उपकरणों और अन्य जरूरी आवश्यकता की पूर्ति सुनिश्चित करें।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने हेड कांस्टेबल को दिया पचास हजार रूपये पुरस्कार


28 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज सागर जिले के हेड कांस्टेबल श्री अभिषेक पटेल को 400 बच्चों की जान बचाने के लिये पचास हजार रूपये का पुरस्कार प्रदान किया। उन्होने श्री पटेल के साहस की सराहना की और शुभकामनायें दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज मुख्यमंत्री निवास पर श्री पटेल को 50 हजार रूपये का चेक भेंट किया। उन्होंने श्री पटेल को पुष्प भेंट कर उनकी कर्तव्यनिष्ठा और साहस की प्रशंसा की। इस अवसर पर पुलिस महानिदेशक श्री आर के शुक्ला, अपर पुलिस महानिदेशक श्री राजीव टंडन एवं श्री आदर्श कटियार भी उपस्थित थे। उल्लेखनीय है कि श्री पटेल ने सागर के चितोरा गांव के माध्यमिक स्कूल के पास पड़े तोप के गोले को अपने कंधे पर उठाकर एक किलोमीटर दूर जाकर फेंका ताकि वहां मौजूद 400 बच्चों की जान बच सके। इस तरह श्री पटेल ने अदम्य साहस और कर्तव्यनिष्ठा का परिचय दिया


aaराजधानी दिल्ली में प्रदेश का नया भवन बनेगा


28 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राजधानी दिल्ली में प्रदेश के नये भवन का निर्माण कार्य निश्चित समय में हो जाये। इस बात का निर्माण एजेंसी चयन में विशेष ध्यान दिया जाये। उन्होंने डिजाईनिंग और कार्य की उत्कृष्ट गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने निर्देश दिये। श्री चौहान आज मंत्रालय में केन्द्र सरकार द्वारा राजधानी दिल्ली में आवंटित भूखण्ड पर भवन निर्माण की समीक्षा कर रहे थे। इस अवसर पर वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान को बैठक में बताया गया कि केन्द्र सरकार द्वारा राज्य को 1.5 एकड़ भूखण्ड का आवंटन किया गया है। शीघ्र ही भूमि का आधिपत्य राज्य को मिल जायेगा। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए.पी. श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन श्री प्रभांशु कमल, प्रमुख सचिव लोक निर्माण श्री प्रमोद अग्रवाल, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिवद्वय श्री अशोक बर्णवाल और श्री एस.के. मिश्रा, सड़क विकास निगम के प्रबंध संचालक श्री मनीष रस्तोगी, मध्यप्रदेश भवन के आवासीय आयुक्त श्री आशीष श्रीवास्तव भी मौजूद थे


aaस्कूल शिक्षा राज्य मंत्री श्री जोशी ने किया माध्यमिक शाला टी.टी. नगर का आकस्मिक निरीक्षण


28 Aug 2017

तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने चन्द्रशेखर आजाद माध्यमिक शाला टी.टी. नगर के सामने से कचरा हटवाने के निर्देश नगर निगम के अधिकारियों को दिये हैं। श्री जोशी ने सोमवार को आकस्मिक रूप से स्कूल का निरीक्षण किया। श्री जोशी ने 8वीं कक्षा के बच्चों से भी बात की। उन्होंने बच्चों को स्वच्छता, बिजली की बचत और पौध-रोपण का महत्व बताया। उन्होंने खरगोश और कछुए की कहानी भी सुनायी। श्री जोशी ने जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देशित किया कि किसी भी स्कूल के आस-पास गंदगी होने पर तुरंत जरूरी कार्यवाही करें। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaशिक्षक की भूमिका में सरकारी स्कूल पहुँचे मुख्यमंत्री श्री चौहान


26 Aug 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मिल बांचे मध्यप्रदेश अभियान के अन्तर्ग्रत आज शिक्षक के रूप में भोपाल में मैनिट परिसर में स्थित शासकीय माध्यमिक शाला में बच्चों को पढ़ाने पहुँचे। श्री चौहान ने किस्से-कहानियों के माध्यम से बच्चों को जीवन में सफलता के सूत्रों का ज्ञान दिया। प्रदेश में आज दो लाख 15 हजार से भी अधिक प्रबुद्धजनों ने विभिन्न शासकीय विद्यालयों में जाकर बच्चों को पढ़ाने का कार्य किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्राथमिक और माध्यमिक स्तर के स्कूली बच्चों के साथ अत्यंत सरल और प्रभावशाली संवाद किया। बच्चों को अच्छे काम करने के लिये प्रेरित करते हुये श्री चौहान ने कहा कि उन्ही लोगों का जीवन सफल है जो स्वयं के साथ देश और समाज की उन्नति में भी सहयोगी हों। मुख्यमंत्री ने बच्चों को समझाया कि पुस्तकों से मिलने वाले ज्ञान को आचरण में उतारना चाहिये। छोटी-छोटी अच्छी आदतें ही व्यक्ति को महान बनाती हैं। श्री चौहान ने बच्चों को बड़ों का सम्मान करने, सदैव सच बोलने, स्वच्छता का पालन करने और पौधरोपण करने के लिये प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि नियमित व्यायाम करने के साथ ही खेलने और मित्रों के साथ समय व्यतीत करना भी जरूरी होता है। ऐसा करने से मन प्रसन्न, शरीर स्वस्थ और दिमाग मजबूत होता है। मुख्यमंत्री ने बच्चों को अच्छे अंक लाने के लिये प्रोत्साहित करते हुए बताया कि 12वीं की परीक्षा में 75 प्रतिशत से ज्यादा अंक लाने वाले बच्चों की स्नातक स्तर की शिक्षा के लिये अब फीस सरकार द्वारा भरवायी जायेगी।
प्रश्नोत्तरी में समझाया पर्यावरण संतुलन मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रश्नोत्तरी शैली में बच्चों को जीवन के लिए जरूरी ऑक्सीजन की आवश्यकता, उसकी आपूर्ति के स्त्रोत, वृक्षों की अंधाधुंध कटाई एवं प्रदूषण के दुष्प्रभावों को समझाते हुये बताया कि तेजी से बढ़ता तापमान प्राकृतिक आपदाओं का जनक है। यदि वृक्षों को काटना और जल स्त्रोतों का प्रदूषण रोका नहीं गया तो मानव जीवन संकट में पड़ जायेगा। उन्होंने मौसमी बीमारियों के लिये आस-पास साफ-सफाई रखने और गंदगी नहीं करने की शिक्षा दी।
रोचक एवं प्रेरणादायी किस्से-कहानियाँ सुनाईं मुख्यमंत्री ने कक्षा में बच्चों को पक्षी और बहेलिये की, सत्यवादी युधिष्ठिर और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के प्रेरक प्रंसगों की कहानियां सुनाईं। बच्चों से पुस्तकों का वाचन करवाया और गणित के प्रश्न भी हल करवाये। श्री चौहान ने बच्चों को उपहार भेंट कर प्रोत्साहित किया तथा गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिये संकल्पित भी करवाया। मुख्यमंत्री ने विद्यालय की स्मार्ट क्लास का अवलोकन किया और विद्यालय प्रांगण में पौधा रोपित किया।
शिक्षक की आदर्श भूमिका में मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मिल बाँचे मध्यप्रदेश अभियान के तहत शाला में शिक्षक की आदर्श भूमिका प्रस्तुत की। बच्चों के साथ घुलमिल कर संवाद का ऐसा जीवंत सम्पर्क बना लिया कि उनके बुलाने पर बच्चे दौड़कर उनके पास आने लगे। श्री चौहान ने कक्षा आठवीं की पाठ्य पुस्तक 'भाषा भारती' के पाठ 'मुक्तानंद जी' का वाचन कक्षा 8 के छात्र अमित कुशवाह से करवाया। 'समय बड़ा अनमोल' पाठ का वाचन कक्षा चार की छात्रा राधिका ने किया। पहली कक्षा के छात्र कृष ने बाल सुलभ सहजता और शालीनता के साथ कविता 'जिसने सूरज चाँद बनाया' का पाठ किया। मुख्यमंत्री ने विद्यार्थियों के गणितीय ज्ञान का अत्यंत स्वाभाविक शैली में परीक्षण किया। पहले दो अंकों की संख्या का योग छात्रा आयुषी से करवाया। फिर तीन-तीन अंकों की संख्याओं का योग 5 वीं कक्षा की छात्रा दीप्ति से करवाया। इसके बाद चार-चार अंकों की संख्या घटवाकर देखी। इस प्रश्न को सफलतापूर्वक कक्षा 8 के छात्र अक्षय ने कर दिखाया। उन्होंने विद्यालय की छात्र मंत्री पर्यावरण शालिनी और कनक से अपनत्व और स्नेह के साथ बातें की।


aaसरदार पटेल स्कूल करोंद में शिक्षक बन गये विश्वास सारंग


26 Aug 2017

मिल बाँचे मध्यप्रदेश' कार्यक्रम के अन्तर्गत सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी, राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग आज सरदार पटेल स्कूल करोद में शिक्षक बन गये। उन्होंने बच्चों को प्रकाश अपवर्तन और परावर्तन के नियम तथा ऊर्जा और ऊर्जा के कार्य में परिणिति की अवधारणा को बेहद आसान माडल के माध्यम से समझाया। राज्य मंत्री श्री सारंग ने केन्टीलीवर ब्रिज हुबली कोलकाता की डिजायन से बच्चों को बताया कि दाब बड़ाने से कैसे ब्रिज खुलता और बन्द होता है। इसी प्रकार एक अन्य मॉडल से उन्होंने प्रकाश के परावर्तन और अपवर्तन को समझाया। श्री सारंग ने विज्ञान की अवधरणाओं के साथ बच्चों को उनका क्लास टीचर बनकर अच्छे नागरिक बनने, देश और समाज की सेवा के लिये खुद के लिए तैयार करने की जरूरी बातें बाल सुलभ अंदाज में बताई। उन्होंने साफ-सफाई रखने, माता-पिता, बड़ों और गुरूजन का आदर करने की बातें भी समझाई। उन्होंने बच्चों से सवाल-जवाब करते हुए समझाया कि अच्छा नागरिक बनने के लिए क्या-क्या करना चाहिए, बच्चों को क्या-क्या सीखना है और खुद को श्रेष्ठ बनाने के लक्ष्य को कैसे प्राप्त करना है। राज्य मंत्री ने बच्चों को प्रेरक और रोचक कहानियों के माध्यम से व्यक्तिव और चरित्र-निर्माण के लिये बाते समझाई और कहा कि ईमानदारी से अपना कर्त्तव्य-निर्वहन करें, मन लगा कर पढ़ाई करें। मिल बाँचे कार्यक्रम में स्कूल की छात्राओं, डाइट की व्याख्याता डॉ. श्रीमती प्रमिला कौशल और प्रधान अध्यापक सहित स्थानीय जन-प्रतिनिधि और गणमान्य नागरिक मौजूद थे।


aaजीवन का लक्ष्य प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत जरूरी – श्रीमती माया सिंह


26 Aug 2017

शालाओं से सीधे समाज को जोड़ने और बच्चों में शिक्षा के प्रति रूझान पैदा करने के लिए “मिल बाँचें मध्यप्रदेश” अभियान के तहत नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने ग्वालियर के शा