Untitled Document


register
REGISTER HERE FOR EXCLUSIVE OFFERS & INVITATIONS TO OUR READERS

REGISTER YOURSELF
Register to participate in monthly draw of lucky Readers & Win exciting prizes.

EXCLUSIVE SUBSCRIPTION OFFER
Free 12 Print MAGAZINES with ONLINE+PRINT SUBSCRIPTION Rs. 300/- PerYear FREE EXCLUSIVE DESK ORGANISER for the first 1000 SUBSCRIBERS.

   >> सम्पादकीय
   >> राजधानी
   >> कवर स्टोरी
   >> विश्व डाइजेस्ट
   >> बेटी बचाओ
   >> आपके पत्र
   >> अन्ना का पन्ना
   >> इन्वेस्टीगेशन
   >> मप्र.डाइजेस्ट
   >> मध्यप्रदेश पर्यटन
   >> भारत डाइजेस्ट
   >> सूचना का अधिकार
   >> सिटी गाइड
   >> अपराध मिरर
   >> सिटी स्केन
   >> जिलो से
   >> हमारे मेहमान
   >> साक्षात्कार
   >> केम्पस मिरर
   >> फिल्म व टीवी
   >> खाना - पीना
   >> शापिंग गाइड
   >> वास्तुकला
   >> बुक-क्लब
   >> महिला मिरर
   >> भविष्यवाणी
   >> क्लब संस्थायें
   >> स्वास्थ्य दर्पण
   >> संस्कृति कला
   >> सैनिक समाचार
   >> आर्ट-पावर
   >> मीडिया
   >> समीक्षा
   >> कैलेन्डर
   >> आपके सवाल
   >> आपकी राय
   >> पब्लिक नोटिस
   >> न्यूज मेकर
   >> टेक्नोलॉजी
   >> टेंडर्स निविदा
   >> बच्चों की दुनिया
   >> स्कूल मिरर
   >> सामाजिक चेतना
   >> नियोक्ता के लिए
   >> पर्यावरण
   >> कृषक दर्पण
   >> यात्रा
   >> विधानसभा
   >> लीगल डाइजेस्ट
   >> कोलार
   >> भेल
   >> बैरागढ़
   >> आपकी शिकायत
   >> जनसंपर्क
   >> ऑटोमोबाइल मिरर
   >> प्रॉपर्टी मिरर
   >> सेलेब्रिटी सर्कल
   >> अचीवर्स
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> जीवन दर्शन
   >> कन्जूमर फोरम
   >> पब्लिक ओपिनियन
   >> ग्रामीण भारत
   >> पंचांग
   >> रेल डाइजेस्ट
  
मध्यप्रदेश डाइजेस्ट
mpinfo.org

: फीचर

बदलता मध्यप्रदेश : डॉ.एच.एल. चौधरी


aa aa aa aa aa
डा. नरोत्तम मिश्रा, जनसंपर्क मंत्री, मध्यप्रदेश शासन : जीवन परिचय
.... More



D-82465/1-12-17


aaनर्मदा ट्रामा सेन्टर भोपाल को मिला भोपाल में प्रथम एवं मध्यप्रदेश का दूसरा "एन.ए.बी.एच. नर्सिंग एक्सीलेंस सर्टिफिकेशन


16 December 2017

गुणवत्ता के मापदंड आज विश्वभर में सभी सेवा और उत्पादन के क्षेत्र में अपनाये जा रहे है और जब बात स्वास्थ्य क्षेत्र की हो तो गुणवत्ता और अधिक महत्वपूर्ण हो जाती है.ईएसआई बात को ध्यान में रखकर ११ बर्ष पूर्व २००६ में नर्मदा ट्रामा सेन्टर की स्थापना करने वाले डायरेक्टर द्वारा डा. राजेश शर्मा एवं डा.रेणु शर्मा ने कुछ वर्ष पूर्व अन्तर्राष्ट्रीय मानकों को हेल्थ क्षेत्र में लागु करने वाली संस्था "एन.ए.बी.एच" से सर्टिफिकेशन प्राप्त करने के लिए प्रयास आरम्भ किये.आज सामान्यजन में एन.ए.बी.एच को लेकर जागरूकता का आभाव हे ."एन.ए.बी.एच" वास्तव में "नेशनल एक्रेडिटेशन बोर्ड फार हॉस्पिटल एंड हेल्थ केयर प्रोवाइडस " होता है.यह एक स्वतंत्र इकाई है.जो QCI{क्वालिटी काउंसनिल ऑफ़ इंडिया} एवं ISQUA से सम्बन्ध है.


aaसमस्याओं का पूर्वानुमान लगाकर समाधान की रणनीति तैयार करें-मुख्यमंत्री श्री चौहान


15 December 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि समस्याओं का पूर्वानुमान लगाते हुए उसके समाधान की रणनीति तैयार रखना और विस्तृत योजना तैयार करना सुशासन के लिए सहायक होता है। श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश की नौकरशाही देश की सबसे अच्छी नौकरशाही है। यहां कलेक्टर से लेकर वरिष्ठ सचिव स्तर के अधिकारी भी जनता के साथ मिलकर और उनकी अपेक्षाओं के अनुरूप काम करते हैं। मुख्यमंत्री आज यहां तीन दिवसीय आईएएस सर्विस मीट के शुभारंभ सत्र को संबोधित कर रहे थे। सर्विस मीट का आयोजन मध्यप्रदेश आईएएस ऐसोसिएशन द्वारा किया गया है। श्री चौहान ने कहा कि भारतीय प्रशासनिक सेवा में शामिल होना अपने आप में जीवन का मिशन है। इसमें सेवा भाव सर्वोच्च होता है। जीवन को हर पल सार्थक बनाने की ईमानदार कोशिश लोकसेवक को करते रहना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश की ब्यूरोक्रेसी ने टीम मध्यप्रदेश के रूप में कई असंभव से लगने वाले काम सफलता पूर्वक किये है। उन्होंने भावांतर भुगतान योजना का उल्लेख करते हुए कहा है कि इसके क्रियान्वयन में प्रारंभिक कठिनाईयों को दूर कर लिया गया और आज किसान योजना की तारीफ कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि सड़क, पुल, पुलिया भवन बनाने के साथ लोगों की जिंदगी बनाना, समाज को दिशा देना और अच्छे विचारों का प्रसार कर लोगों को मार्गदर्शन भी देना सरकार का काम है। उन्होंने ' एकात्म यात्रा ' की चर्चा करते हुए कहा कि आदि शंकराचार्य ने भारत की सांस्कृतिक एकता और अखण्डता के लिए मठों की स्थापना कर धार्मिक पुनरोत्थान का काम किया। उन्होंने कहा कि समाज को वैचारिक रूप से एकजुट रखना भी आवश्यक है। श्री चौहान ने कहा कि समाज के कुछ मुद्दे ऐसे हैं जो केवल प्रशासन और पुलिस से हल नहीं होते । समाज के सहयोग की जरूरत होती है। उन्होंने महिलाओं और बेटियों की सुरक्षा से जुड़े विषयों की चर्चा करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में बेटियों की गरिमा को धूमिल करने वाले नर पिशाचों को मृत्युदण्ड देने का कानून बनाकर पुरूष प्रधान मानसिकता को बदलने की पहल की गई है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों में लोगों के कल्याण और प्रदेश के विकास की तड़प होना जरूरी है। हर विषय पर सकारात्मक सोच रखना होगी। यथास्थितिवाद से बड़ा परिर्वतन नहीं आ सकता। ब्यूरोक्रेसी के सहयोग से मध्यप्रदेश आज विकास के हर क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि लक्ष्य तय कर काम करने की प्रवृत्ति बढ़ाएं ताकि समय से काम पूरे होते रहें। मुख्यमंत्री ने नए साल की अग्रिम शुभकामनाएं देते हुए कहा कि नये साल में नवाचारी प्रशासन के क्षेत्र में नए कीर्तिमान बनाने के लिए तैयार रहें। मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह ने स्वागत भाषण में मीट के आयोजन के उद्देश्यों की जानकारी देते हुए बताया कि हर साल मीट का आयोजन किसी ज्वलंत विषय पर विचार-विमर्श के साथ शुरू होता है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष 'आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस और प्रशासन' विषय पर विचार-विमर्श रखा गया है। उन्होंने विषय की प्रस्तावना रखते हुए बताया कि आज दुनिया के विभिन्न देशों में प्रशासन प्रशासनिक दक्षता बढ़ाने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का अधिकाधिक उपयोग हो रहा है। उन्होंने कहा कि विशाल डाटा प्रबंधन की समस्या आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस से हल हो सकती है। इससे निर्णय लेने में मदद मिलेगी। एमपी आईएएस एसोसिएशन की अध्यक्षा श्रीमती गौरी सिंह ने मीट की रूपरेखा की जानकारी दी । उन्होने बताया कि मीट में विभिन्न प्रतियोगिताओं के लिए पांच विशेष पुरस्कार अलग से रखे गये हैं। शुभारंभ सत्र में दो मिनट का मौन धारण कर आईएएस एसोसियेशन के सदस्य स्वर्गीय श्री अरूण पण्ड्या को श्रद्धांजलि दी गई । श्री अरूण पण्ड्या का हाल ही में निधन हो गया। मीट में आयोजन समिति के उपाध्यक्ष श्री प्रमोद अग्रवाल, आईएएस एसोसियेशन के उपाध्यक्ष श्री फैज अहमद किदवई, प्रशासन अकादमी की महानिदेशक श्रीमती कंचन जैन, वरिष्ठ आईएएस अधिकारी और जिला कलेक्टर उपस्थित थे।


aa16 दिसम्बर को विजय दिवस समारोह


15 December 2017

विजय दिवस के अवसर पर स्थानीय सैनिक विश्राम गृह में प्रात: 11.30 बजे से एक कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। उल्लेखनीय है कि वर्ष 1971 में हुए भारत-पाक युद्ध में भारतीय सेना ने 16 दिसम्बर को ही विजय हासिल की थी। इस दिन 93 हजार पाक सैनिकों ने आत्म-समर्पण किया था और तब से ही 16 दिसम्बर को विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है।


aaजलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग से निपटने नवाचार भी करें वनाधिकारी : केन्द्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन


15 December 2017

केन्द्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने गुरुवार को यहां वन विभाग की गतिविधियों की समीक्षा के दौरान कहा कि विकास के परिणाम स्वरूप जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग के समाधान के लिये पूरी दुनिया एकजुट होकर कार्य-योजना बना रही है। दुनिया को इस समस्या से उबारने में वनों की महत्वपूर्ण भूमिका है। डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि वन अधिकारियों को ईश्वरीय कार्य के साथ जुड़ने का मौका मिला है। वे रूटीन कामों के साथ ही ऐसे नवाचार भी करें जो देश और दुनिया में मिसाल बनें। उन्होंने कहा कि भारत में घने एवं स्वस्थ जंगल, नदी, हवा-पानी और संवेदनशील भाव विरासत में मिले हैं। अब हमारा कर्त्तव्य है कि भावी पीढ़ी को स्वस्थ और स्वच्छ प्राकृतिक विरासत सौंपें। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि पृथ्वी के तापमान में इसी तरह वृद्धि जारी रही तो प्राणियों का अस्तित्व ही खतरे में पड़ जाएगा। डॉ. हर्षवर्धन ने मध्यप्रदेश में विगत 2 जुलाई 2017 को 7 करोड़ से अधिक पौधारोपण की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह अच्छी बात है कि 90 प्रतिशत से अधिक पौधे जीवित अवस्था में हैं। उन्होंने दूरस्थ अंचलों में वन विभाग द्वारा संचालित दीनदयाल योजना की भी सराहना की। उन्होंने वन अधिकारियों से कहा कि प्रयोगशाला और मैदानी कार्य का सम्मिश्रण करते हुए असाधारण लक्ष्य बनायें और उस पर काम करें।
दीनदयाल वनांचल सेवा से शिशु-मातृ मृत्यु दर और मलेरिया में कमी आई
वन मंत्री डॉ. शेजवार ने बताया कि दूरस्थ अंचलों में निवासरत लोगों की शिक्षा और स्वास्थ्य के लिये अक्टूबर 2016 से आरंभ की गई दीनदयाल वनांचल सेवा योजना के अच्छे परिणाम मिलने लगे हैं। इसमें स्वास्थ्य, शिक्षा, महिला एवं बाल-विकास और आदिम जाति कल्याण विभाग को जोड़ा गया है। ऐसे इलाकों में जहां इन विभागों के लोग नहीं पहुंच पाते, वहां वन कर्मियो की सहायता से टीकाकरण, शिक्षा, स्वास्थ्य आदि के कार्य करने से लोगों की स्थिति में काफी सुधार आया है। दीनदयाल वनांचल सेवा से हरदा, होशंगाबाद और बैतूल जिले में शत-प्रतिशत गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण हुआ है और मलेरिया से होने वाली मृत्यु लगभग शून्य हो गई है। शिक्षा में सहायता से दूरस्थ अंचलों के बच्चों के शिक्षा परिणाम में भी सुधार हुआ है। डॉ. शेजवार ने डॉ. हर्षवर्धन को योजना का ब्रोशर भेंट किया।
बिजली लाइनों का होगा इन्सुलेशन
प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्य प्राणी) श्री जितेन्द्र अग्रवाल ने केन्द्रीय मंत्री के समक्ष बाघों को करंट से बचाने के लिये 1200 करोड़ रुपये की मांग को दोहराया। श्री अग्रवाल ने कहा कि यदि केन्द्र से यह राशि मिल जाती है तो बिजली की लाइनों का इन्सुलेशन करवाया जायेगा। इससे शिकारी करंट लगाकर बाघ एवं अन्य वन्य प्राणियों का शिकार नहीं कर सकेंगे। डॉ. हर्षवर्धन ने बैठक में मध्यप्रदेश के वनों के घनत्व, वृक्षावरण, कार्य आयोजना, केन्द्र प्रवर्तित योजनाओं, नवाचार, कैम्पा फंड, वृक्षारोपण, ग्रीन इंडिया मिशन, वन एवं वन्य प्राणी संरक्षण, संयुक्त वन प्रबंधन, वन्य प्राणी प्रबंधन, सूचना प्रौद्योगिकी, वन अधिकारों की मान्यता अधिनियम, राज्य लघु वनोपज संघ, राज्य वन विकास निगम आदि की समीक्षा की। अपर मुख्य सचिव श्री दीपक खांडेकर, प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं वन बल प्रमुख डॉ. अनिमेष शुक्ला, वन विकास निगम के प्रबंध संचालक श्री रवि श्रीवास्तव, राज्य लघुवनोपज संघ के प्रबंध संचालक श्री जव्वाद हसन सहित वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारी बैठक में उपस्थित थे।


aaडबरा में विकसित होगा एवियेशन सिटी और एयरकार्गो हब


14 December 2017

राज्य शासन ने ग्वालियर एग्रीकल्चर कम्पनी द्वारा ग्वालियर जिले के डबरा में एवियेशन सिटी, एयरकार्गो हब, मल्टी प्रोडक्ट एसईजेड में विभिन्न चरणों में करीब 10 हजार करोड़ रुपये के पूँजी निवेश के प्रस्ताव पर विचार करने के लिये उच्च स्तरीय समिति गठित की है। प्रस्ताव के संबंध में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में पिछले दिनों निवेशकों की वन-टू-वन बैठक में चर्चा हई है। कम्पनी के पूँजी निवेश से आने वाले 5 से 6 वर्षों में एक लाख व्यक्तियों को रोजगार मिलेगा। राज्य शासन ने कम्पनी के प्रस्ताव एवं भूमि आवंटन के मामलों पर विचार करने के लिये अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग श्री इकबाल सिंह बैस की अध्यक्षता में कमेटी का गठन किया है। कमेटी में सदस्य सचिव के रूप में प्रमुख सचिव वाणिज्य एवं उद्योग श्री मोहम्मद सुलेमान और सचिव राजस्व विभाग श्री हरिरजंन राव को शामिल किया गया है।


aaएकात्म यात्रा सामाजिक सरोकारों से जुड़ा सांस्कृतिक अभियान : मुख्यमंत्री श्री चौहान


14 December 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि एकात्म यात्रा सामाजिक सरोकारों से जुड़ा सांस्कृतिक अभियान है। यात्रा के दौरान आगामी 19 दिसम्बर से 22 जनवरी तक सामाजिक समरसता का संदेश दिया जायेगा। इस अभियान में बेटी बचाओ और महिला सुरक्षा को भी जोड़ा गया है। यात्रा के दौरान बलात्कारी को फांसी की सजा का कानून लागू कराने के लिए हस्ताक्षर अभियान भी चलाया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से एकात्म यात्रा की तैयारियों की विस्तृत समीक्षा की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इस महत्वाकांक्षी यात्रा को सर्वव्यापी बनाने के लिए समाज के हर वर्ग को इससे जोड़ें। इस अद्वितीय और अदभूत अभियान का नेत्तृव संत गण करेंगे। आदि शंकराचार्य ने भारत को सांस्कृतिक रूप से एक किया था। उन्होंने अद्वेत दर्शन दिया और देश की चारों दिशाओं में चार धामों की स्थापना की। ओंकारेश्वर में उनकी विशाल प्रतिमा स्थापित की जायेगी। एकात्म यात्रा के दौरान प्रदेश की प्रत्येक पंचायत और नगरों के वार्डो से धातु के कलश में मिट्टी एकत्रित की जायेगी जिसका उपयोग प्रतिमा के आधार निर्माण में किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यात्रा का उद्देश्य समाज को एकात्म करना है। प्रदेश के उज्जैन, ओंकारेश्वर, पचमठा और अमरकंटक से यह यात्रा निकलेगी । यात्रा के दौरान जनसंवाद के कार्यक्रम होंगे। इस दौरान स्थानीय भजन मंडलिया प्रस्तुति देंगी। संकल्प पत्र का वाचन किया जायेगा। हर जिले में दो मुख्य जनसंवाद के कार्यक्रम होंगे। संभाग मुख्यालय पर आदि शंकराचार्य स्त्रोत का समूह गायन होगा। इसके अलावा चित्रकला, निबंध और श्‍लोक गायन प्रतियोगिता भी होगी। जनअभियान परिषद यात्रा का समन्वय करेगी। संत गण, समाजसेवी, बुदिजीवी सहित समाज के हर वर्ग को इससे जोड़ा जायेगा। आगामी 22 जनवरी को ओंकारेश्वर में पूरे प्रदेश की सहभागिता से प्रतिमा स्थापना का कार्यक्रम आयोजित होगा। यह यात्रा प्रदेश में सामाजिक समरसता और एकता का जन-जागरण अभियान है। इसके माध्यम से संस्कार देने की प्राचीन परम्परा को पुनर्जीवित किया जा रहा है। बताया गया है कि यात्रा के साथ युवा बैंड भी रहेगा।
उड़द में भावांतर योजना का लाभ 22 दिसम्बर तक मिलेगा
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये उड़द में भावांतर भुगतान योजना का लाभ 22 दिसम्बर तक देने के निर्देश दिए। उन्होंने कलेक्टरों से कहा कि भावांतर भुगतान योजना में गरीब और कम उत्पादन वाले किसान भी उनकी फसल का विक्रय कर सकें, इसकी सतत् निगरानी की जाये, उनको यथा सम्भव सहयोग दिया जाये। उन्होंने कहा कि कोई भी किसान योजना के लाभ से वंचित नहीं रहे, यह सुनिश्चित किया जाये। श्री चौहान ने बताया कि नवम्बर माह के दौरान इस योजना में उपज का विक्रय करने वाले किसानों की भावांतर की राशि 23 दिसम्बर से उनके बैंक खातों में जमा करने की कारवाई शुरू हो जायेगी। उन्होंने कहा कि भावांतर की सभी भ्रांतियां खत्म हो गई हैं, किसान योजना से प्रसन्न है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि भावांतर की राशि का वितरण समारोहपूर्वक किया जाये।
नर्मदा जयंती 24 जनवरी को मनेगी
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 24 जनवरी को नर्मदा जयंती दिवस पर नर्मदा सेवा यात्रा के उद्देश्यों को पूरा करने के लिए समाज और नर्मदा सेवा समितियों को प्रेरित करने के कार्यक्रमों का आयोजन किया जायें। उन्होंने वृक्षारोपण कार्यक्रम की सफलता के लिए बधाई देते हुए कहा कि 24 जिलों में वृक्षारोपण की जीवितता का प्रतिशत 92 रहा है। यह उल्लेखनीय सफलता है। उन्होंने फलदार वृक्षों का रोपण करने वाले कृषकों को फरवरी माह में राहत राशि 20 हजार रूपये उपलब्ध करवाने के लिए कहा। उन्होंने नर्मदा घाटों के सौंदर्यीकरण और स्वच्छता संबंधी कार्यों पर भी विशेष ध्यान दिए जाने की जरूरत बताई। वीडियो कांन्फ्रेंस के दौरान यात्रा के संबध में सुझाव और तैयारियों की जानकारी दी गई। इस अवसर पर राज्य खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे, जन-अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डे, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


aaअखिल भारतीय सेवाओं के अधिकारियों को चुनौतियों का सामना कर बेहतर नागरिक सेवाएँ देना चाहिये : पुलिस महानिदेशक श्री शुक्ला


14 December 2017

अखिल भारतीय सेवाओं के अधिकारियों के 92वें आधारभूत प्रशिक्षण का समापन आज पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला के मुख्य आतिथ्य में प्रशासन अकादमी के स्वर्ण जयंती सभागार में हुआ। इस मौके पर श्री शुक्ला ने कहा कि अधिकारियों को चुनौतियों का सामना कर बेहतर नागरिक सेवाएँ देना चाहिए। उन्होंने कहा कि चुनौतियों को पूरी ताकत एवं संगठनात्मक समन्वय के साथ दूर कर स्वच्छ, न्यायपूर्ण, पारदर्शी व्यवस्था बनाना जरूरी है। प्रशासन अकादमी की महानिदेशक श्रीमती कंचन जैन ने कहा कि प्रशासन अकादमी प्रशिक्षणार्थियों की क्षमताएँ निखारने का काम करती है। अकादमी से प्राप्त प्रशिक्षण सेवाएँ देते समय जन-सामान्य की भावनाओं को समझने और उनको सुविधाएँ मुहैया कराने में सहायक होंगी। प्रशिक्षण संचालक श्री राकेश कुमार यादव ने बताया कि अखिल भारतीय सेवाओं के प्रशिक्षु अधिकारियों के लिये 15 सप्ताह का प्रशिक्षण कार्यक्रम 4 सितम्बर को शुरू हुआ। इसमें भारतीय पुलिस सेवा और भारतीय वन सेवा के 79 प्रशिक्षु अधिकारी शामिल हुए। प्रशिक्षण कार्यक्रम में अकादमिक इनपुट यथा लोक प्रशासन, अर्थशास्त्र, प्रबंधन, कानून एवं भारतीय संविधान विषयक जानकारी दी गई। साथ ही ग्रामीण भ्रमण, ट्रेकिंग, शारीरिक प्रशिक्षण, खेल एवं सांस्कृतिक गतिविधियों को भी शामिल किया गया। इस मौके पर प्रशासन अकादमी के संचालक श्री मनीष रस्तोगी उपस्थित थे। कार्यक्रम में प्रशिक्षु अधिकारियों को विभिन्न अकादमिक एवं सांस्कृतिक गतिविधियों के लिये पुरस्कृत किया गया। सर्वश्रेष्ठ प्रशिक्षु अवार्ड से सुश्री तेजस्वनी गौतम को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन अकादमी की संकाय सदस्य डॉ. प्रज्ञा अवस्थी ने किया और आभार श्री प्रमोद चतुर्वेदी ने माना।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया की माता जी के निधन पर शोक व्यक्त


13 December 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया की माता जी श्रीमती प्रेमवती मलैया के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। श्रीमती मलैया 89 वर्ष की थीं। वे आज ब्रम्हलीन हो गईं। श्री चौहान ने कहा कि स्वर्गीय श्रीमती मलैया सांस्कृतिक परम्पराओं और मूल्यों में गहन विश्वास रखने वाली धार्मिक स्वभाव की महिला थीं। उन्होंने ब्रम्हलीन श्रीमती प्रेमवती मलैया की आत्मा की शांति एवं शोक संतप्त परिवार को यह दु:ख सहने की ईश्वर से प्रार्थना की है।


पहले करते थे मजदूरी, अब दे रहे हैं रोजगार
13 December 2017
आठनेर के ग्राम गुनखेड़ा निवासी गोपाल मालवीय पहले दैनिक मजदूरी से दूसरों के घरों में छोटा-मोटा ग्लास वर्क एवं फर्नीचर का कार्य करते थे। मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से लाभान्वित होकर अब उन्होंने कृति फर्नीचर के नाम से स्वयं की एल्यूमिनियम विण्डो, डोर, ग्लास वर्क एवं फर्नीचर वर्क्स की दुकान खोल ली है। इतना ही नहीं, अब गोपाल इस दुकान पर अन्य दो लोगों को रोजगार भी दे रहे हैं। दैनिक मजदूरी पर कार्य करने पर गोपाल को बमुश्किल चार से पांच हजार रुपये मासिक आय होती थी। मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन से उनके स्वयं का व्यवसाय स्थापित करने के लिए मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना में स्टेट बैंक से एक लाख रुपये का ऋण दिलाया गया, जिस पर 30 हजार रुपये अनुदान है। इस ऋण से उन्होंने स्वयं की दुकान कृति फर्नीचर की शुरूआत की। अब गोपाल की आमदनी 15 से 18 हजार रुपये प्रति माह तक पहुंच गई है। काम की अधिकता के कारण अपनी दुकान पर दो युवकों को भी काम पर लगा रखा है।

aaप्रदेश के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी क्षेत्र को सुदृढ़ बनाने का फैसला


12 December 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में प्रदेश के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी क्षेत्र को सुदृढ़ बनाने का फैसला लिया गया। इस संदर्भ में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गये। मंत्रि-परिषद ने मेप आईटी के तहत स्थापित सेंटर ऑफ एक्सीलेंस में पदों की संरचना में संशोधन एवं अतिरिक्त पद की स्वीकृति देकर कुल 28 पद मंजूर किए। मंत्रि-परिषद ने विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा संचालित स्टेट वाईड एरिया नेटवर्क (स्वान) लोक वित्त से वित्त पोषित कार्यक्रमों, योजनाओं एवं परियोजनाओं को निरंतर जारी रखने की सैद्धांतिक स्वीकृति दी। साथ ही स्टेट डाटा सेंटर बिल्डिंग परियोजना को निरंतर जारी रखने के लिए भी मंजूरी दी। मंत्रि-परिषद ने राज्य शासन द्वारा नागरिकों को जिला स्तर पर ई-गवर्नेंस सोसायटी के माध्यम से संचालित सभी सूचना प्रौद्योगिकी परियोजना में समन्वय एवं ई-गवर्नेंस के प्रचार-प्रसार, दक्षता एवं योजनाओं के तहसील स्तर तक प्रभावी क्रियान्वयन करने के लिए योजना को निरंतर जारी रखने की स्वीकृति दी है।
जिला चिकित्सालय में ट्रामा सेंटर की मंजूरी
मंत्रि-परिषद ने 11 शहरी स्वास्थ्य संस्थाओं में से जिला चिकित्सालय मुरैना का 300 बिस्तर से 600 बिस्तर में, शिवपुरी का 300 से 400 बिस्तर में, श्योपुर का 100 बिस्तर से 200 बिस्तर में, इंदौर का 100 से 300 बिस्तर में उन्नयन किये जाने का निर्णय लिया। इसी प्रकार, 60 बिस्तरीय सिविल अस्पताल डबरा का 100 बिस्तरीय में, 30 बिस्तरीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बैरसिया, मंडीदीप, नसरुल्लागंज और बामौर का 50 बिस्तरीय सिविल अस्पताल में उन्नयन होगा। मंत्रि-परिषद ने सागर शहरी क्षेत्र मकरौनिया बुजुर्ग में और इंदौर शहरी क्षेत्र में मांगीलाल चूरिया जिला इंदौर अस्पताल में 30 बिस्तरीय नवीन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की मंजूरी दी है। प्रदेश की 27 ग्रामीण स्वास्थ्य संस्थाओं में से पांच प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र देवसर, सतवास, पुनासा, हस्थिनापुर और बड़ौनी का 30 बिस्तरीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में तथा 21 उप स्वास्थ्य केंद्र मवई, बड़ा ईटमा, बेहरी, अजनास, हरणगांव, रघुनाथपुर, मानपुर, बोरावा, पिपराही, बेहट, कांगपुर, अविदाबाद, बडोनकलां, खाडा, भर्रा, मालनपुर, पोचानेर, मगरखेड़ी, करतहा, जरियासी और चमेली चौक के साथ ही एक 30 बिस्तरीय बीमाक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नूराबाद जिला मुरैना का सीमाक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उन्नयन/स्थापना करने की मंजूरी दी। इसके अतिरिक्त 51 जिला चिकित्सालय में ट्रामा सेंटर स्थापना की पद सहित मंजूरी दी। प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधायें मुहैया करवाने के उददेश्य से 3571 पद सृजित करने की मंजूरी भी दी। साथ ही संस्थाओं के भवन निर्माण, उपकरण एवं फर्नीचर संस्थापना की अनुमति भी मंत्रि-परिषद ने प्रदान की।
लघु अवधि ऋण के लिए राज्य शासन की गारंटी
मंत्रि-परिषद ने प्रदेश की तीनों विद्युत वितरण कंपनियों द्वारा पावर फाइनेंस कार्पोरेशन से प्राप्त 1500 करोड़ रुपए के लघु अवधि ऋण के लिए राज्य शासन की गारंटी प्रदान करने का निर्णय लिया। ऋण की गारंटी के लिए वितरण कंपनियों द्वारा राज्य शासन को 0.5 प्रतिशत प्रति वर्ष की दर से गारंटी फीस का भुगतान किया जायेगा।
एमएसएमई के उत्पाद प्रदर्शित करने एक्जिविशन सेंटर की स्थापना
मंत्रि-परिषद ने एक्जिविशन सेंटर की स्थापना योजना के क्रियान्वयन और निरंतरता के लिए वित्तीय वर्ष 2017-18 से 2019-20 के मध्य कुल 15 करोड़ रुपये के व्यय की मंजूरी दी। प्रदेश के प्रमुख औद्योगिक क्षेत्र भोपाल, जबलपुर, इंदौर, ग्वालियर एवं सतना में एक्जिविशन सेंटर स्थापित किया जाना है। प्रदेश की लघु एवं मध्यम उद्योग इकाइयों के उत्पादों के प्रदर्शन के लिए प्रथम चरण में पांच शहरों में सेंटरों के रुप में स्थाई स्थल निर्मित होंगे। मंत्रि-परिषद ने मध्यप्रदेश ट्रेड फेयर अथॉरिटी को आर्थिक सहायता योजना के क्रियान्वयन और निरंतरता के लिए वित्तीय वर्ष 2017-18 से 2019-20 तक कुल 30 लाख रुपए की राशि का व्यय करने की मंजूरी दी।
अनुसूचित जाति कल्याण के महत्वपूर्ण निर्णय
मंत्रि-परिषद ने अनुसूचित जाति कल्याण विभाग द्वारा प्रदेश के अनुसूचित जाति वर्ग के राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय उत्कृष्ट खिलाड़ियों को राज्य स्तर पर पुरुस्कृत करने तथा जिला स्तर पर क्रीड़ा, सांस्कृतिक, बौद्धिक एवं चित्रकला प्रतियोगताएं आयोजित कर छात्र-छात्राओं को पुरुस्कृत करने संबंधी योजना का संचालन 2017-18 से 2019-20 तक निरंतर रखने की स्वीकृति प्रदान की। इसी क्रम में अनुसूचित जाति कल्याण विभाग में संचालित छात्रवृत्ति (कक्षा 9-10) योजना के संचालन की वर्ष 2017-18 से वर्ष 2019-20 की अवधि में निरंतरता के लिए निर्णय लिया गया। उल्लेखनीय है कि कक्षा 9 एवं 10 में अध्ययन कर रहे अनुसूचित जाति वर्ग के छात्र-छात्राओं के माता-पिता को योजना में सहायता प्रदान की जाती है ताकि बीच में अध्ययन छोड़ने की प्रवृत्ति को कम किया जा सके। मंत्रि-परिषद ने अनुसूचित जाति कल्याण विभाग द्वारा संभाग स्तरीय ज्ञानोदय विद्यालयों में निवासरत विद्यार्थियों के लिए संचालित स्काउट गाइड योजना को वर्ष 2017-18 से वर्ष 2019-20 की अवधि में निरंतर रखने की स्वीकृति प्रदान की। मंत्रि-परिषद ने अनुसूचित जनजाति की कक्षा 1 से 5 तक की बालिकाओं और विशेष पिछड़ी जनजाति के बालकों को देय 15 रुपए प्रतिमाह छात्रवृत्ति में वृद्धि करते हुए 25 रुपए प्रतिमाह तथा कक्षा 6 से 8 तक की बालिकाओं को 50 रुपए प्रतिमाह छात्रवृत्ति के स्थान पर 60 रुपए प्रतिमाह छात्रवृत्ति की स्वीकृति दी। योजना को वर्ष 2017-18 से 2019-20 तक निरंतर संचालन की स्वीकृति भी प्रदान की गई। आगामी तीन वर्षों में कक्षा 1 से 8 तक की छात्रवृत्ति से 64 लाख 43 हजार विद्यार्थी लाभान्वित होंगे।
क्रीड़ा परिसर योजना
मंत्रि-परिषद ने जनजातीय कार्य विभाग द्वारा विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिए संचालित क्रीड़ा परिसर योजना को वर्ष 2017-18 से 2019-20 तक निरंतर संचालित करने की स्वीकृति भी प्रदान की। योजना के अंतर्गत इंदौर, श्योपुर, खरगोन और शहडोल में संचालित बालक क्रीड़ा परिसर तथा डिडौरी, धार और झाबुआ में संचालित कन्या क्रीड़ा परिसर में अंतराष्ट्रीय स्तर की खेल सुविधाएं उपलब्ध कराई जायेंगी।
केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल की रिजर्व बटालियन के लिए भूमि आवंटन
मंत्रि-परिषद ने केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल की रिजर्व बटालियन की स्थापना के लिए सीहोर जिले के ग्राम जमोनिया तालाब में 39.886 हेक्टेयर शासकीय भूमि आवंटित करने का निर्णय भी लिया


aaभोपाल में 14 दिसम्बर से 7 दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय हर्बल मेला


12 December 2017

इस वर्ष भी भोपाल के लाल परेड मैदान पर 7 दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय हर्बल मेला आयोजित किया जा रहा है। वन विभाग एवं राज्य लघु वनोपज संघ के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित मेले का शुभारंभ केन्द्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ. हर्षवर्धन शाम 5 बजे करेंगे। वन, योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार शुभारंभ कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे। सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग, उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सूर्यप्रकाश मीणा और राज्य लघु वनोपज संघ के अध्यक्ष श्री महेश कोरी विशिष्ट अतिथि होंगे। राज्य लघु वनोपज संघ के प्रबंध संचालक श्री जव्वाद हसन ने यह जानकारी देते हुए बताया कि मेले में भूटान, नेपाल, मलेशिया, श्रीलंका के साथ देश के विभिन्न प्रदेशों के प्रतिभागी भाग ले रहे हैं। प्रदेश के विभिन्न जिलों से संग्रहीत की गई दुर्लभ जड़ी-बूटियों के 300 स्टाल होंगे जिनमें वनौषधियों का विक्रय होगा। मेले में क्रेता-विक्रेता सम्मेलन, लघु वनोपज संरक्षण एवं विपणन पर आधारित कार्यशाला और आयुर्वेद चिकित्सा शिविर भी होंगे।
रंगा-रंग सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे- प्रसिद्ध हस्तियाँ लेंगी भाग
मेले में 15 दिसम्बर को दोपहर 12 से 2 बजे तक स्कूली बच्चों की समूह एवं एकल नृत्य प्रतियोगिताएं और शाम 7 से 9 बजे तक ट्यूनीशिया के विश्व प्रसिद्ध म्यूजिकल बैंड की प्रस्तुति होगी। दिनांक 16 दिसम्बर की शाम 7 से 9 बजे मशहूर कव्वाल उस्ताद मुनव्वर मासूम द्वारा सूफियाना कव्वाली पेश की जाएगी। दिनांक 17 दिसम्बर को 12 से 2 बजे तक स्कूली छात्र-छात्राओं की गायन प्रतियोगिता के बाद शाम 5 से 6 बजे तक मशहूर गज़ल गायक श्री रूपेश लाल द्वारा गजल प्रस्तुति होगी। तत्पश्चात शाम 6.30 से 9.30 बजे तक सात दशक (1947 से 2017) के सुरों के सुहाने सफर की प्रस्तुति होगी। कक्षा 5 तक के विद्यार्थियों के लिए 18 दिसम्बर को 12 से 2 बजे तक फैंसी ड्रेस एवं सोलो एक्टिंग प्रतियोगिता होगी। इसी दिन शाम को 7 से 9.30 बजे तक श्री एहसान कुरैशी लाफ्टर शो करेंगे। रानी दुल्लैया कॉलेज द्वारा 19 दिसम्बर को शाम 5 से 6 बजे तक सांस्कृति कार्यक्रमों की प्रस्तुति के बाद वीनस बैंड ऑर्केस्टा की प्रस्तुति करेगा। इसके अलावा मेले में कठपुतली, नुक्कड़ नाटक और लोक संगीत के भी कार्यक्रम होंगे।


aaभाप्रसे के अधिकारियों की नवीन पद-स्थापना


12 December 2017

राज्य शासन ने भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी श्री नरेन्द्र सिंह परमार, अपर आयुक्त राजस्व नर्मदा संभाग होशंगाबाद को अपर सचिव मध्यप्रदेश शासन पदस्थ किया है। साथ ही, श्री राजेश कुमार कौल संयुक्त आयुक्त, प्रमुख राजस्व आयुक्त कार्यालय तथा नियंत्रक, शासकीय मुद्रण एवं लेखन सामग्री भोपाल, (अतिरिक्त प्रभार) को शासकीय नियंत्रक मुद्रण एवं लेखन साम्रगी भोपाल पदस्थ किया है।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान से विश्व चैम्पियन दि ग्रेट खली की सौजन्य भेंट


11 December 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से आज निवास पर डब्लयूडब्ल्यूई के विश्व हैवीवेट चैम्पियन, भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले दि ग्रेट खली श्री दलीप सिंह राणा ने सौजन्य भेंट की। श्री चौहान ने मध्यप्रदेश में दि ग्रेट खली का स्वागत करते हुए उन्हें भारत का गौरव बताया। दि ग्रेट खली ने मध्यपदेश में खेलों को बढ़ावा देने के प्रयासों के लिये मुख्यमंत्री श्री चौहान की सराहना की। दि ग्रेट खली के आग्रह पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में रेसलिंग को बढ़ावा दिया जायेगा।


aaनर्मदा नदी में मल-जल की एक बूंद भी नहीं मिलने देंगे


11 December 2017

नर्मदा नदी मध्यप्रदेश की जीवन-रेखा है और इसे स्वच्छ और निर्मल रखने के लिए हर संभव प्रयास किये जायेंगे। नर्मदा नदी में नगरीय और ग्रामीण क्षेत्रों से मल-जल की एक बूंद भी नहीं मिलने देंगे। प्रदेश के हर नागरिक को नर्मदा नदी को स्वच्छ बनाये रखने का संकल्प लेना चाहिए। यह हम सबका कर्त्तव्य है कि नर्मदा मैया को प्रदूषित न होने दें। माँ नर्मदा को साफ-सुथरा बनाने के लिए प्रदेश सरकार ने माँ नर्मदा के किनारे बसे 18 शहर में सीवरेज प्लांट बनाने के लिए 1400 करोड़ रुपये की राशि स्वीकृत की है। यह बातें मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज जबलपुर के भटौली में अमृत योजना में 324 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले सीवरेज प्लांट एवं 149 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली जल प्रदाय योजना के भूमि-पूजन कार्यक्रम में उपस्थित जनसमूह से कही। श्री चौहान ने जन-समूह को नर्मदा नदी को स्वच्छ बनाने का संकल्प दिलाया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश सरकार गरीबों को रहने के लिए जमीन उपलब्ध करवाएगी। प्रदेश में किसी भी गरीब को आवासीय जमीन के बिना नहीं रहने दिया जाएगा, जिनके पास आवास के लिए जमीन नहीं है उन्हें आवासीय जमीन का पट्टा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि गरीबों को भी रहने और मुस्कुराने का हक है, उनके सर पर भी पक्की छत होना चाहिए। प्रधानमंत्री आवास योजना में नगरीय क्षेत्रों में भी आवासों का निर्माण किया जा रहा है। जबलपुर में ही इस योजना में 2012 हितग्राहियों को आवास बनाने के लिए एक-एक लाख रुपये की राशि प्रदान की जा चुकी है।
तेजस्विनी दुबे को 11 हजार रुपये की सम्मान निधि की घोषणा
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर माँ नर्मदा को स्वच्छ बनाए रखने के लिए संकल्प दिलाने वाली कक्षा दूसरी में पढ़ने वाली 7 वर्ष की कुमारी तेजस्विनी दुबे की सराहना करते हुए कहा कि नन्ही बालिका ने माँ नर्मदा को साफ सुथरा बनाए रखने के लिए जो संदेश दिया है उसका हम सभी को अनुसरण करना चाहिए। उन्होंने कु. तेजस्विनी दुबे को 11 हजार की सम्मान निधि देने की घोषणा की। प्रारंभ में महापौर श्रीमती स्वाति सदानंद गोडबोले ने सीवरेज प्लांट एवं पेयजल प्रदाय योजना की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सीवरेज प्लांट की योजना में जबलपुर में 195 किलोमीटर लंबी सीवर लाइन बिछाइ जायेगी। इस योजना में 5 मल-जल शोधन संयंत्र का निर्माण किया जायेगा। भटौली में 149 करोड़ की जल प्रदाय योजना के बनने से जबलपुर शहर के जिन क्षेत्रों में शुद्ध पेयजल नहीं पहुँच पा रहा था उन क्षेत्रों में भी शुद्ध पेयजल प्रदाय किया जा सकेगा। कार्यक्रम में वन मंत्री एवं जबलपुर जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, दमोह के सांसद श्री प्रह्लाद पटेल, विधायक श्री अंचल सोनकर, श्री अशोक रोहाणी, श्री सुशील इंदू तिवारी, मेयर काउंसिल के सदस्य आदि उपस्थित थे।


aaपुरुषार्थ और परिश्रम से आगे बढ़ा कल्चुरी समाज : मुख्यमंत्री श्री चौहान


10 December 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कल्चुरी समाज अपने पुरुषार्थ और परिश्रम से आगे बढ़ा है। प्रसन्नता की बात है कि कल्चुरी समाज में महिला सशक्तिकरण की गतिविधियां शुरु की गई हैं। श्री चौहान ने कहा कि महिला अपराधों की रोकथाम के लिये राज्य सरकार ने कई कदम उठाये हैं। समाज इसमें सरकार के साथ खड़ा हो। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने प्रतिभाशाली विद्यार्थियों के लिये मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना शुरु की है। इसमें अब परिवार की आय सीमा 6 लाख रुपये से बढ़ाकर 8 लाख रुपये की जायेगी। युवा उद्यमियों के लिये 100 करोड़ रुपये का वेंचर फंड स्थापित किया है। मुख्यमंत्री ने युवाओं का आव्हान किया कि उद्यमी बनें और प्रदेश के विकास में योगदान करें। श्री चौहान आज यहां श्री सहस्त्रबाहु कल्चुरी महासभा के अखिल भारतीय नि:शुल्क युवक-युवती परिचय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री श्री बाबूलाल गौर और सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग विशेष रूप से उपस्थित थे। कार्यक्रम में कल्चुरी समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री दिलीप सूर्यवंशी ने बताया कि कल्चुरी समाज अब हर माह एक दिन गरीब कन्याओं का विवाह करवाएगा। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने समाज की स्मारिका और कल्चुरी समाज की एक झलक पुस्तक का विमोचन किया। मुख्यमंत्री को समाज की ओर से प्रशस्ति पत्र भेंट किया गया। श्री चौहान ने इस मौके पर वर-वधुओं को आशीर्वाद दिया। कार्यक्रम में श्री विनोद राय, श्री विजयपाल बालिया, विधायक श्री संदीप जायसवाल और श्री मुनमुन राय, श्री रामकुमार बालिया, श्री बालेश्वर दयाल, श्री आशुतोष मालवीय उपस्थित थे। आभार प्रदर्शन श्री ओमप्रकाश चौकसे ने किया।


aaमानव अधिकारों के संरक्षण के प्रति संवेदनशीलता जरूरी - जनसम्‍पर्क मंत्री डॉ. मिश्र


10 December 2017

जनसम्‍पर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज दतिया में मानव अधिकार दिवस पर आयोजित संगोष्ठी में कहा कि समाज में मानव अधिकारों के संरक्षण के प्रति संवेदनशीलता अत्यंत जरूरी है। उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान में मानव अधिकारों को विशेष महत्व दिया गया है। जनसम्‍पर्क मंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश राज्य मानव अधिकार आयोग की अनुशंसाओं पर भी राज्य सरकार गंभीरता से अमल करती है। कार्यक्रम में जनसम्पर्क मंत्री ने विभिन्न क्षेत्रों में श्रेष्ठ कार्य करने वाली प्रतिभाओं को सम्मानित किया। इस मौके पर विधायक श्री घनश्याम पिरौनिया, श्री प्रदीप अग्रवाल और मानव अधिकार संगठन के अध्यक्ष श्री मुन्नीलाल शर्मा उपस्थित थे। डॉ. मिश्र ने दतिया में माँ पीताम्बरा पीठ के निकट संचालित दीनदयाल रसोई का निरीक्षण किया। इस अवसर पर उन्होंने भोजन करने आए नागरिकों के साथ बैठकर भोजन भी ग्रहण किया।
माता साहब आश्रम में अभिनंदन
दतिया में ज्योति नगर स्थित माता साहब आश्रम में जनसम्‍पर्क मंत्री डॉ. मिश्र का सिंधी समाज द्वारा अभिनंदन किया गया। कार्यक्रम में श्री गोविन्द ज्ञानानी, श्री पकंज शुक्ल, श्री बलदेव राज, श्री लक्ष्मण साहबानी आदि उपस्थित थे। डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया में व्यापार मेले का शुभारंभ किया और मेले में लगाई गई विकास प्रदर्शनी का शुभांरभ तथा अवलोकन किया। इस मौके पर दतिया नगर पालिका अध्यक्ष श्री सुभाष अग्रवाल और उपाध्यक्ष श्री योगेश सक्सेना भी उपस्थित थे। डॉ. मिश्र ने दतिया व्यापार मेले में 100 हितग्राहियों को प्रधानमंत्री आवास योजना के चेक प्रदान किए। इसके साथ ही 58 हितग्राहियों को खाद्यान की पात्रता पर्चियों का वितरण किया गया।


aaलोक प्रशासन में उत्कृष्टता के लिए प्रधानमंत्री पुरस्कार वर्ष 2018


9 December 2017

केन्द्र शासन ने लोक प्रशासन में उत्कृष्टता के लिए प्रधानमंत्री पुरस्कार के लिए होने वाले पंजीयन एवं प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों के चयन की अवधि 31 दिसम्बर, 2017 तक बढ़ा दी है। सभी कलेक्टरों से कहा गया है कि यदि उन्होंने अभी तक पुरस्कार के लिए पंजीयन नहीं करवाया है, तो वे भारत सरकार के पोर्टल www.darpg.gov.in के माध्यम से पंजीयन करवाएं। केन्द्रीय प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत विभाग ने प्रधानमंत्री पुरस्कार के लिए पोर्टल बनाया है। पुरस्कार के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, डिजिटल भुगतान को प्रोत्साहन, प्रधानमंत्री आवास योजना-शहरी एवं ग्रामीण और दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना प्राथमिकताओं में शामिल हैं। पुरस्कार लोक सेवा दिवस-2018 के समारोह में दिये जाएंगे।


aaजनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने राज्यमंत्री और पत्रकार के स्वास्थ्य की जानकारी ली


8 December 2017

जनसम्पर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र आज स्थानीय बंसल अस्पताल पहुंचे और वहां भर्ती चिकित्सा शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), लोक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, संसदीय कार्य राज्यमंत्री श्री शरद जैन तथा पत्रकार श्री सुनील तिवारी के स्वास्थ की जानकारी ली। डॉ. मिश्र ने चिकित्सकों से पत्रकार श्री सुनील तिवारी एवं राज्य मंत्री श्री शरद जैन के बेहतर उपचार के लिए चर्चा की। डॉ. मिश्र ने राज्यमंत्री श्री जैन एवं पत्रकार श्री तिवारी की कुशलक्षेम पूछी और उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की। इस मौके पर किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन भी साथ थे।


aaभोपाल में 9-10 दिसम्बर को राष्ट्रीय कृषि व्यापार सम्मेलन


8 December 2017

भोपाल में दो दिवसीय राष्ट्रीय कृषि व्यापार सम्मेलन 9 एवं 10 दिसम्बर को भदभदा रोड बरखेड़ी कलां स्थित राज्य कृषि विस्तार एवं प्रशिक्षण संस्थान में होगा। किसान कल्याण मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन कृषि व्यापार सम्मेलन का शुभारंभ 9 दिसम्बर को प्रात: 11 बजे करेंगे। उद्धाटन सत्र में सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सांरग भी मौजूद रहेंगे। केन्द्र और राज्य सरकार की मंशा के अनुरूप किसानों की आय दोगुनी करने और कृषि योजनाओं के प्रभावी क्रियान्वयन के लिये रणनीति बनाने के लिये राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है। सम्मेलन में कृषि क्षेत्र में युवाओं द्वारा लगाई जाने वाली इकाईयों, खाद्य प्र-संस्करण इकाईयों के संबंध में भी मार्गदर्शन दिया जायेगा। सम्मेलन में कृषि क्षेत्र से जुड़े अधिकारी, कृषि विश्वविद्यालय के अधिकारी और कृषि वैज्ञानिक भी शामिल होंगे।


aaएक दशक में 33/11 के.व्ही. उप-केन्द्रों की संख्या दोगुना से अधिक


8 December 2017

मध्यप्रदेश में अटल ज्योति योजना में 24 घंटे और कृषि क्षेत्र में 10 घंटे विद्युत प्रदाय सुनिश्चित किया जा रहा है। इसके लिए जहाँ एक ओर विद्युत उपलब्धता को 2003 के बाद से राज्य में सिलसिलेवार ढंग से बढ़ाने के प्रयास किये गए हैं, वहीं 400 के.व्ही., 220 के.व्ही. एवं 132 के.व्ही. उप-केन्द्रों की संख्या बढ़ाई गई और ट्रांसमिशन लाइनों की क्षमता में वृद्धि की गई। यह जानकारी आज प्रमुख सचिव ऊर्जा श्री आई.सी.पी. केशरी ने उत्तरप्रदेश से आये ऊर्जा विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक में दी। बैठक में उत्तरप्रदेश के प्रमुख सचिव ऊर्जा श्री आलोक कुमार, उत्तरप्रदेश पॉवर कॉर्पोरेशन की प्रबंध संचालक श्रीमती अपर्णा यू., निदेशक (पर्सनल एण्ड एडमिन) मध्यांचल विद्युत वितरण निगम श्री एस.सी. झा, निदेशक (वाणिज्य) श्री संजय सिंह, कंसल्टेंट श्री अरुण कंचन उपस्थित थे। श्री आई.सी.पी. केशरी ने बताया कि मध्यप्रदेश में उप-पारेषण एवं वितरण प्रणाली को मजबूती प्रदान करने के लिए पिछले एक दशक में 33/11 के.व्ही. उप-केन्द्रों की संख्या दोगुने से अधिक हो गई है। इसका परिणाम है कि मध्यप्रदेश सभी श्रेणियों के उपभोक्ताओं को 24 घंटे बिजली उपलब्ध करा पा रहा है और कृषि क्षेत्र को 10 घंटे बिजली मिल रही है। श्री केशरी ने बताया कि मध्यप्रदेश में जहाँ वर्ष 2003 में कृषि क्षेत्र में खपत 33 प्रतिशत थी, वह अब बढ़कर 40 प्रतिशत हो गई है और कृषि पम्पों की संख्या बढ़कर 28 लाख से भी अधिक हो गई है। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश स्टेट लोड डिस्पेच सेंटर को आधुनिक बनाया गया है ओर रियल टाइम डाटा प्राप्त करने के लिए आधुनिकतम आईटी बेस्ड प्रणाली लाई गई है। प्रमुख सचिव ने बताया कि मुख्यमंत्री स्थाई कृषि पम्प योजना में अस्थाई कृषि पम्प को स्थाई कृषि पम्प कनेक्शन में बदला जा रहा है। रेवेन्यु मैनेजमेंट के लिए राज्य के कुछ संभागों/वितरण केन्द्रों में मैनेजमेंट ऑपरेटर नियुक्त किये गए हैं। एम.पी. पॉवर मैनेजमेंट कम्पनी के प्रबंध संचालक श्री संजय कुमार शुक्ल ने मैनेजमेंट के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के प्रबंध संचालक डॉ. संजय गोयल ने कम्पनी द्वारा अपनाई जा रही सूचना प्रौद्योगिकी आधारित उपभोक्ता उन्मुखीकरण की जानकारी दी। श्री आलोक कुमार ने कहा कि उत्तर प्रदेश में बनारस सहित करीब आधा दर्जन शहरों में अंडर ग्राउंड केबलिंग का कार्य प्रगति पर है। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश में 40 लाख स्मार्ट मीटर उपभोक्ताओं के परिसर में कॉलबेल लोकेशन पर लगाए जाएंगे, इससे जहाँ एक ओर राजस्व नुकसान में कमी आएगी वहीं दूसरी ओर उपभोक्ताओं की मीटर रीडिंग संबंधी शिकायतें दूर हो सकेंगी। उन्होंन प्री-पेड मीटर को ग्रामीण क्षेत्र की आवश्यकता बताया और कहा कि जल्दी ही ग्रामीण क्षेत्रों में प्री-पेड मीटर लगाये जाएंगे। श्री आलोक कुमार ने बताया कि बिजली चोरी की रोकथाम के लिए 88 फ्लाइंग स्क्वाड बनाये गये है। उत्तर प्रदेश में बिलिंग दक्षता और संग्रहण दक्षता को बढ़ाने तथा 24 घंटे बिजली देने की दिशा में कारगर कदम उठाये जा रहे हैं। इसी दिशा में दल मध्यप्रदेश में अध्ययन करने आया है।


aaराजस्व वर्ष 2016-17 में राजस्व न्यायालयों में रिकार्ड 9.11 लाख प्रकरणों का निराकरण


7 December 2017

विभिन्न स्तर के राजस्व न्यायालयों में राजस्व वर्ष 2016-17 में रिकार्ड लगभग 9 लाख 11 हजार 585 प्रकरणों का निराकरण हुआ है। कुल पंजीकृत प्रकरणों की संख्या 12 लाख 31 हजार 464 है। निराकृत प्रकरणों का प्रतिशत 74.02 है। प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरूण पाण्डेय ने बताया है कि इसके पहले कभी-भी 50 प्रतिशत से अधिक प्रकरणों का निराकरण नहीं हुआ है। राजस्व वर्ष एक अक्टूबर से 30 सितम्बर तक माना जाता है। श्री पाण्डेय ने बताया है कि प्रदेश में नायब तहसीलदार से कमिश्नर तक के स्तर के कुल 1449 राजस्व न्यायालय हैं। निराकृत प्रकरणों में लगभग 47 हजार प्रकरण दो साल से ऊपर के हैं। कुछ प्रकरण तो 24-25 साल पुराने थे।
प्रकरणों के निराकरण में होशंगाबाद नम्‍बर-एक
रेवेन्यू कोर्ट मेनेजमेन्ट सिस्टम के माध्यम से लोगों को प्रकरण दर्ज करवाने में सुविधा हुई है। साथ ही प्रकरणों की मॉनीटरिंग में भी सुविधा हुई है। प्रकरणों के निराकरण में 82.74 प्रतिशत के साथ होशंगाबाद संभाग नवम्बर एक पर है। उज्जैन 82.40 प्रतिशत के साथ दूसरे और इंदौर 80.81 प्रतिशत के साथ तीसरे स्थान पर है। भोपाल में 77.90, सागर में 76.24, जबलपुर में 76.11, ग्वालियर में 75.52, चंबल में 70.45, शहडोल में 59 और रीवा संभाग में 57.05 प्रतिशत प्रकरणों का राजस्व न्यायालयों में निराकरण हुआ है। संख्या की दृष्टि से देखें तो होशंगाबाद संभाग में 59 हजार 179, उज्जैन में 1 लाख 03 हजार 165, इंदौर में 78 हजार 847, भोपाल में 1 लाख 105, सागर में 1 लाख 39 हजार 055, जबलपुर में 1 लाख 85 हजार 047, ग्वालियर में 83 हजार 189, चंबल में 32 हजार 067, शहडोल में 34 हजार 972 और रीवा संभाग में 95 हजार 959 प्रकरणों का निराकरण हुआ है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा 10 जुलाई 2017 की समीक्षा में दिए गए निर्देशों के अनुरूप राजस्व प्रकरणों के निराकरण में त्वरित कार्यवाही सुनिश्चित की गयी है। मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह ने राजस्व विभाग की पूरी टीम के साथ 31 जुलाई से 31 अगस्त के बीच सभी संभागों में पहुँचकर इस संबंध में समीक्षा की। मुख्य सचिव दूसरे चरण में भोपाल, ग्वालियर, चंबल और शहडोल संभाग की समीक्षा कर चुके हैं। इस बार संभाग के जिलों में संभाग स्तरीय समीक्षा की गयी। इस दौरान राजस्व कार्यालयों का आकस्मिक निरीक्षण भी किया जाता है। राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता भी सतत समीक्षा कर जरूरी व्यवस्थाएँ सुनिश्चित कर रहे हैं। फलस्वरूप प्रकरणों के निराकरण में तेजी आयी है।


aaज्ञान लोक मंगल की परम्परा है


7 December 2017

उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने कहा है कि ज्ञान लोक मंगल की परम्परा है। सभ्यताएँ युग के अनुसार बदलती है लेकिन मूल्यों की संस्कृति नहीं। श्री पवैया ने यह बात माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित भारतीय जीवन दृष्टि वर्तमान संदर्भ में व्याख्या 'ज्ञान संगम' में कहीं। आर.सी.व्‍ही.पी. नरोन्हा प्रशासन एवं प्रबन्धकीय अकादमी के स्वर्ण जयंती सभागार में शुरू हुए दो दिवसीय 'ज्ञान-संगम' में प्रज्ञा प्रवाह और भारतीय शिक्षा मण्डल सहयोगी संस्थाएँ रही। उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया ने कहा कि रीति-रिवाजों को हमने धर्म और जीवन की आचरण-संहिता के रूप में अपनाया। उन्होंने स्वामी विवेकानंद द्वारा कहे गये वाक्य 'अतीत को पढ़ो, वर्तमान को गढ़ो और आगे बढ़ो' को दोहराया और कहा कि स्वदेशी को अपनाने में युवा घबराते हैं और बाहरी वस्तुओं को श्रेष्ठ मानते हैं। इस विचार-धारा को बदलना होगा। श्री पवैया ने कहा कि बड़े-बुजुर्ग कहते हैं कि पीपल के वृक्ष को काटने पर ब्रह्म हत्या का पाप लगता है, जब यह बात वैज्ञानिक तथ्यों से सिद्ध हुई तब लोगों को समझ आई कि वह कार्बन-डाई-ऑक्साइड को ग्रहण कर ऑक्सीजन छोड़ता है। श्री पवैया ने कहा कि भारतीय योग को संसार ने अपनाया और एक दिन विश्व योग दिवस के नाम किया। यह सिर्फ तर्क के साथ अपनी बात को रखने से संभव हो सका है। उन्होंने ज्ञान-संगम के जरिये एक दूसरे में समाहित हो जाने वाले सम-सामायिक विषय को आत्म-केन्द्रित करने को कहा। साहित्कार एवं विद्वान श्री नरेन्द्र कोहली ने कहा कि 'मैं' साधारण शब्द नहीं 'आत्मा' है और जो मैं हूँ वही तू है। उन्होंने वनस्पति से लेकर प्रकृति को प्राणवान बताया। उन्होंने कहा कि सबके भीतर वही तत्व है। उन्होंने अहंकार छोड़कर सेवा करने और सामने वाले के प्रति कृतज्ञ होने की बात भी कही। उन्होंने कहा कि ऋषि राष्ट्र की रक्षा करता है। पौराणिक कथाओं का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि सिर्फ कहानियाँ नहीं उनका सार निकाले और उसकी गहराई में जायें। श्री कोहली ने कहा कि हमेशा धर्म और न्याय का साथ दें। उन्होंने कहा कि मोहवश आज के दौर में बच्चे की गलती को माँ-बाप छुपाकर अन्याय का साथ देते हैं। इससे बच्चे गलत राह पर चले जाते हैं। अखिल भारतीय प्रज्ञा-प्रवाह के संयोजक श्री नदंकुमार ने दर्शन, ज्ञान और विज्ञान पर प्रकाश डाला और कहा कि भारत सभी के प्रति एक विशेष दृष्टिकोण रखता है। वह केवल मनुष्य में चैतन्य नहीं ढूँढ़ता, सभी में ईश्वर का अंश देखता है। उन्होंने प्रकृति में भी अपनत्‍व की भावना को बताया। वि.वि. के कुलपति प्रो. ब्रज किशोर कुठियाला ने विभिन्न सत्रों की जानकारी दी ओर कुलसचिव प्रो. संजय द्विवेदी ने संचालन किया।


aaअंतर्राष्ट्रीय पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को नौकरी में मिलेगी सीधी नियुक्ति


6 December 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेल प्रतियोगिताओं में पदक प्राप्त करने वाले खिलाड़ियों को शासकीय सेवा में सीधी नियुक्ति दी जायेगी। उन्होंने कहा है कि खेलों के क्षेत्र में मध्यप्रदेश ने अलग करने की ठानी है। श्री चौहान आज यहाँ मध्यप्रदेश शूटिंग अकादमी में अभिनव बिन्द्रा 10 मीटर शूटिंग रेंज, 25 मीटर शूटिंग रेंज और प्रशासकीय भवन के लोकार्पण समारोह को संबोधित कर रहे थे। खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, ओलम्पिक गोल्ड मेडलिस्ट श्री अभिनव बिन्द्रा, नेशनल रायफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष श्री रनिंदर सिंह इस अवसर पर उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के खिलाड़ियों में प्रतिभा और क्षमता है। उन्हें आवश्यक सुविधाएँ उपलब्ध कराई जायें, तो वे खेल के क्षेत्र में चमत्कार कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के खिलाड़ी वर्ष 2020 के ओलम्पिक में अलग- अलग खेलों में देश का प्रतिनिधित्व करें। श्री चौहान ने कहा कि यदि लगन और जज्बा हो, तो कुछ भी असंभव नहीं है। उन्होंने खिलाड़ियों का आव्हान किया कि आगे बढ़ें और आसमान छू लें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नव-निर्मित शूटिंग रेंज और प्रशासनिक भवन का अवलोकन भी किया। गोल्ड मेडलिस्ट श्री अभिनव बिन्द्रा ने विभिन्न अकादमी के खिलाड़ियों और प्रशिक्षकों के प्रश्नों के जवाब दिये। श्री बिन्द्रा ने कहा कि प्रतियोगिता के दौरान 'मैच प्रेशर' आए तो उसको एक्सेप्ट करें, भागें नहीं। लक्ष्य पर अपना फोकस बनाए रखें और आत्म-विश्वास बढ़ाएं। उन्होंने कहा कि ट्रेनिंग के समय अगर मानसिक दबाव महसूस करते हैं, तो स्वयं को चैलेंज करें और अपनी बेसिक और तकनीक पर ज्यादा ध्यान दें। खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधार राजे सिंधिया ने कहा कि अनुशासन से ही जीवन और खेल में फोकस करने में मदद मिलती है। इस अवसर प्रमुख सचिव खेल एवं युवा कल्याण श्री अनिरूद्ध मुखर्जी, प्रमुख सचिव जनसंपर्क श्री एस.के.मिश्रा, संचालक खेल एवं युवा कल्याण श्री उपेन्द्र जैन एवं बड़ी संख्या में खिलाड़ी उपस्थित थे।


aaदीनदयाल रसोई योजना हेतु खाद्यान्न का आवंटन


6 December 2017

खाद्य विभाग द्वारा दीनदयाल रसोई योजना का माह दिसम्बर 2017 और जनवरी 2018 का 3047 क्विंटल खाद्यान्न का आवंटन जारी कर दिया गया है। जिला कलेक्टरों की मांग के आधार पर जिलेवार आवंटन किया गया है। कुल आवंटित खाद्यान्न में 1926 क्विंटल गेहूँ और 1121 क्विंटल चावल है।
खाद्यान्न का उठाव 10 दिसम्बर तक करवाने के निर्देश
खाद्य विभाग द्वारा सभी जिला कलेक्टरों को अनुसूचित जाति, जनजाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्रावासों के लिए अक्टूबर से दिसम्बर माह के लिए जारी गेहूँ और चावल के आवंटन का 10 दिसम्बर तक उठाव करवाने के निर्देश दिए गये हैं।


aaजनसमस्याओं के निराकरण में लापरवाही पर 6 अधिकारी निलंबित और 3 कर्मचारी बर्खाश्त


5 December 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राशन वितरण में किसी भी तरह की गड़बड़ी बर्दाश्त नहीं की जायेगी। उन्होंने कलेक्टरों को निर्देशित किया है कि पात्र व्यक्तियों को राशन वितरण सुनिश्चित किया जाये तथा अपात्रों को सूची से पृथक किया जाये। किसी भी स्थिति में गरीब व्यक्ति राशन से वंचित न रहे। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ समाधान ऑन लाइन के अंतर्गत जनसमस्याओं को सुन रहे थे। इस दौरान उन्होंने दर्जनभर जनशिकायतों का निराकरण किया। इसमें लापरवाही वरतने वाले 6 अधिकारियों के निलंबन, 3 कर्मचारियों के बर्खाश्तगी तथा 3 अधिकारियों-कर्मचारियों से हर्जाना वसूली कर संबंधित आवेदकों को भुगतान करने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्रालय में आवेदकों की समस्याओं को समक्ष में सुना। इस दौरान उज्जैन की जमुना बाई ने अपने पति की डूबने से मृत्यु होने के कारण आर्थिक सहायता की माँग की। जिसे चार लाख रूपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध करायी गयी है। साथ ही मुख्यमंत्री ने पात्रतानुसार पेंशन आदि सुविधायें देने का भरोसा दिया। इसी तरह सागर जिले के खुरई के श्री सत्यम श्रीवास्तव के अविवादित नामंतरण प्रकरण के निराकरण में देरी करने के कारण तहसीलदार श्री के.एन. ओझा और संबंधित पटवारी को निलंबित करने के निर्देश दिये गये। सागर की सुश्री सपना राय पुत्री श्री रामशरण सिंह की दसवीं एवं वारहवीं की अंकसूची में नामत्रुटी के सुधार में देरी करने के कारण माध्यमिक शिक्षा मंडल के सहायक सचिव श्री राममोहन पटेल एवं सेक्शन अधिकारी और सहायक ग्रेड -3 को निलंबित करने के निर्देश दिये गये। भानपुरा जिला मंदसौर के श्री यशवंत रूद्रवाल व अन्य की जमीन सड़क निर्माण में अधिग्रहण करने का मुआवजा देने में देरी करने के कारण लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री को नोटिस जारी किया गया।
आवेदकों को मिला हर्जाना
इसी तरह कुशमी, जिला जबलपुर की श्रीमती मानोबाई को भू अधिकार ऋण पुस्तिका प्रदान करने में देरी करने वाले नायब तहसीलदार को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया। साथ ही 3250 रूपये की क्षतिपूर्ति भी लोकसेवा प्रदाय गारंटी योजना अंतर्गत संबंधित आवेदक को देने के निर्देश दिये गये। ग्राम रोगनाथपुर चोरतहरी जिला गुना के बी.पी.एल आवेदक श्री गोरध्या अहिरवार को सस्ता खाद्यान उपलब्ध कराने निर्देश दिये गये। ग्वालियर के श्री जयप्रकाश शर्मा को बारहवी कक्षा 94 प्रतिशत से अधिक अंक से उत्तीर्ण कर आईआईटी रूड़की में प्रवेश लेने पर मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजनान्तर्गत उसकी फीस एक लाख 35 हजार का भुगतान करने के निर्देश दिये। बरोदा दही जिला धार की श्रीमती कली बाई मृत्यु प्रमाण पत्र प्रदाय करने में देरी बरतने के कारण ग्राम पंचायत सचिव एवं रोजगार सहायक को बर्खाश्त कर दिया गया। मुड़वारा जिला कटनी के श्री गरीबदास कोल ने विद्युत मीटर की गड़बडी की शिकायत के निराकरण में देरी करने के कारण विद्युत मंडल के संबंधित सहायक यंत्री एवं कनिष्ठ यंत्री से हर्जाना वसूली कर संबंधित आवेदक को 8 हजार रूपये की राशि भुगतान करने के निर्देश दिये गये। ग्राम ढेंकी जिला सिंगरौली के श्री राकेशदेव पांडे की पुत्री के विवाह की सहायता राशि 25 हजार रूपये के भुगतान में लापरवाही बरतने के कारण संबंधित लिपिक को बर्खाश्त करने के तथा जनपद पंचायत सी.ई.ओ. को निलंबित करने के निर्देश दिये। इसी तरह ग्राम भैसोला जिला रतलाम के श्री नरेन्द्र सिंह चौहान ने नलजल योजना चालू नहीं होने की शिकायत की थी। जिसे चालू कर दिया गया है तथा जाँच के निर्देश दिये गये। ग्राम खोकसी जिला अशोकनगर के श्री माधौसिंह अहिरवार की पुत्री को लाड़ली लक्ष्मी योजना का लाभ नहीं मिलने की शिकायत की थी। जिसमें बताया गया कि संबंधित का प्रमाण-पत्र दो वर्ष पहले ही जारी कर दिया गया था, लेकिन आवेदक के इंदौर में निवास करने के कारण प्रमाण पत्र प्रदाय नहीं किया जा सका। जो अब आवेदक के कहने पर उसके रिश्तेदार को उपलब्ध कराया गया।
भावांतर भुगतान योजना के अंतर्गत 15 दिसम्बर को होगा भुगतान
इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि भावांतर भुगतान योजना में किसी तरह की गड़बड़ी न हो। पूरी गंभीरता के साथ सत्यापन किया जाये, जिससे कोई पात्र किसान लाभ से वंचित नहीं रहे। उन्होंने कहा कि इस योजना के अंतर्गत एक से 30 नवम्बर तक के भाव के हिसाब से बनी भावांतर राशि 15 दिसम्बर तक किसानों के खातों में जमा की जायेगी। इसकी सभी तैयारियाँ पूरी कर ली जायें। उन्होंने कहा कि किसानों की हित की यह क्रांतिकारी योजना है। उन्होंने पेयजल की समुचित आपूर्ति के लिये आपातकालीन रणनीति बनाने तथा बंद नलजल योजनाओं को चालू करने के निर्देश दिये।
24 जनवरी को नर्मदा जयंती धूमधाम से मनाई जायेगी
इस मौके पर श्री चौहान ने बताया कि नर्मदा सेवा यात्रा के एक वर्ष पूर्ण होने 11 दिसम्बर को जबलपुर में नर्मदा सेवा समितियों का विशाल सम्मेलन आयोजित किया जायेगा। इसमें नर्मदा सेवक, स्वयंसेवी संगठनों के पदाधिकारी, पंचायत एवं नगरीय निकायों के पदाधिकारी, संत-महात्मा आदि शामिल होंगे। आगामी 24 जनवरी 2018 को नर्मदा जयंती धूमधाम से मनाई जायेगी। उन्होंने इसकी तैयारियाँ करने के लिये भी अधिकारियों को निर्देशित किया। साथ ही कहा कि नर्मदा तट पर रोपे गये पौधों को सुरक्षित रखने की सभी जरूरी व्यवस्थायें की जायें। उन्होंने खाद की समुचित आपूर्ति और धान खरीदी की व्यवस्था सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिये। साथ ही बताया कि आगामी 14 से 21 जनवरी 2018 के बीच आनंदोत्सव मनाया जायेगा जिसकी सभी तैयारियाँ की जायें। इस दौरान जनसभाओं के निराकरण में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले जिलों को बधाई दी। इसके साथ ही पुलिस और वन विभाग के अधिकारियों को भी बधाई दी। 'समाधान एक दिन' कार्यक्रम के तहत 57 सेवाओं को चिन्हित किया गया है।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने एनीमिया उन्मूलन के लिये लालिमा रथों को रवाना किया


5 December 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज मुख्यमंत्री निवास से लालिमा रथों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। ये रथ एनिमिया बाहुल्य ग्रामों में लालिमा योजना का सघन प्रचार-प्रसार करेंगे और जागरुकता लायेंगे। लालिमा योजना प्रदेश में किशोरी बालिकाओं और महिलाओं में एनिमिया उन्मूलन के लिये क्रियान्वित की जा रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर कहा कि अधिक से अधिक बालिकाओं और महिलाओं को लालिमा अभियान का लाभ दिलाया जाये। इस अभियान में समाज सहयोग भी प्राप्त किया जाये। इस अवसर पर बताया गया कि लालिमा रथ प्रत्येक संभाग के एनिमिया बाहुल्य ग्रामों में भ्रमण करेंगे। जिन स्थानों पर रथ रुकेगा, वहां स्वास्थ्य जांच शिविर भी आयोजित किये जायेंगे। इस अवसर पर महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस और प्रमुख सचिव महिला एवं बाल विकास श्री जे.एन. कंसोटिया भी उपस्थित थे।


aaप्रदेश में बाघों और तेंदुओं की संख्या बढ़ाने की दीर्घकालीन योजना बनेगी


5 December 2017

प्रदेश के संरक्षित क्षेत्रों के अंतर्गत गैर-वानिकी कार्य के प्रकरणों से प्राप्त 5 प्रतिशत राशि टाईगर फांउडेशन सोसायटी में जमा करायी जायेगी। इस राशि से वन एवं वन्य प्राणियों के संरक्षण और संवर्धन के कार्य कराये जा सकेंगे। कूनो-पालपुर अभ्यारण्य में प्रदेश के बाघों को रखा जायेगा। ये निर्णय आज मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में सम्पन्न राज्य वन्य प्राणी बोर्ड की बैठक में लिये गये। बैठक में वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में कहा कि प्रदेश में बाघों और तेंदुओं की संख्या बढ़ाने की दीर्घकालीन योजना बनायें। करंट लगने से बाघ के मरने और बाघ के अवैध शिकार जैसी घटनाओं में सख्त कार्रवाई की जाये। बाघ संरक्षण के लिये वन विभाग समग्रता से विचार करे। इनके रहवासी क्षेत्र में आने से होने वाली जनहानि को रोका जाये। खरमोर और सोन चिरैया के संरक्षण के लिये ग्रासलैंड वृद्धि के प्रयास करें। वन ग्रामों में उज्जवला योजना के गैस सिलेंडर रिफिल करने का कार्य वन समितियों को देने पर विचार करें। इस अवसर पर बताया गया कि प्रदेश के संरक्षित क्षेत्रों में 21 ईको सेंसेटिव जोन की अधिसूचना जारी हो गयी है। बैठक में ग्वालियर जिले के घाटी गांव क्षेत्र में बिठौला से गोकुलपुर मार्ग और गिरवई से तिल्ली फेक्ट्री मार्ग के उन्नयन के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया। टाईगर क्षेत्रों के मार्गों पर वन्य पशुओं की वाहनों से होने वाली दुर्घटना रोकने के लिये उनके क्रासिंग वाले क्षेत्रों में स्पीड ब्रेकर बनाने पर सहमति दी गई। रातापानी अभ्यारण के अंतर्गत विनेका से बोरपानी तक की ग्रामीण सड़क निर्माण का अनुमोदन किया गया। इसी तरह घाटीगांव क्षेत्र में निरावली-मोहना मार्ग निर्माण का अनुमोदन किया गया। बैठक में जानकारी दी गई कि प्रदेश में वर्ष 2018 में होने वाली बाघ गणना की तैयारियां की जा रही हैं। प्रदेश में 144 ईको पर्यटन क्षेत्र चयनित किये गये हैं। वन्य प्राणियों के संरक्षण के लिये चलाये जा रहे क्लोज टू माई हार्ट कार्यक्रम से प्रदेश में एक हजार लोग जुड़े हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान और वनमंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार भी इस अभियान से जुड़े हैं। इसके लिये 300 रुपये का दान करना होता है। बैठक में अपर मुख्य सचिव वन श्री दीपक खाण्डेकर, प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री अनिमेष शुक्ल सहित वन्य प्राणी बोर्ड के अशासकीय सदस्य तथा संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।


aaकेन्द्रीय खेल मंत्री ने किया शूटिंग रेंज विस्तारीकरण कार्य का भूमि-पूजन


5 December 2017

केन्द्रीय खेल एवं युवा कार्य मंत्री कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौर ने मध्यप्रदेश शूटिंग अकादमी में 50 मीटर शूटिंग रेज विस्तारीकरण कार्य का भूमि-पूजन किया। इस अवसर पर खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधराराजे सिंधिया तथा संचालक खेल एवं युवा कल्याण श्री उपेन्द्र जैन मौजूद थे। केन्द्रीय खेल एवं युवा कल्याण मंत्री कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौर ने भोपाल स्थित शूटिंग, घुड़सवारी, वाटर स्पोर्टस, बाक्सिंग, ताइक्वाडों, जूड़ो, कराते, फेंसिंग तथा बिलियर्डस अकादमी का निरीक्षण कर खिलाड़ियों से चर्चा की। कर्नल राठौर ने कहा कि मध्यप्रदेश की खेल अकादमियाँ अच्छी हैं और खिलाड़ी बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। केन्द्रीय खेल मंत्री ने निरीक्षण के दौरान खिलाड़ियों से चर्चा कर उनके भोजन और रहने की व्यवस्था देखी तथा प्रशिक्षकों से भी चर्चा की।


aaम.प्र. होमगार्डस् का 6 दिसम्बर को 71वां स्थापना दिवस समारोह


4 December 2017

मध्यप्रदेश होमगार्डस् एवं नागरिक सुरक्षा का 71वां स्थापना दिवस 6 दिसम्बर को भोपाल में मनाया जाएगा। महानिदेशक होमगार्ड, नागरिक सुरक्षा तथा एसडीईआरएफ श्री महान भारत सागर के मुख्य आतिथ्य में यह समारोह जेल रोड पर होमगार्ड लाइन में सुबह 9 बजे प्रारंभ होगा। स्थापना दिवस समारोह में मुख्य अतिथि श्री महान भारत सागर सुबह 9 बजे परेड की सलामी लेंगे और परेड का निरीक्षण करेंगे। इस अवसर पर सिंहस्थ-2016 में उत्कृष्ट सेवाओं के लिए होमगार्डस् को मेडल एवं अन्य सेवा कार्यों के लिए पुरस्कारों का वितरण किया जाएगा। समारोह में एसडीईआरएफ द्वारा संचालित रचनात्मक गतिविधियों का प्रदर्शन किया जाएगा और सांस्कृति कार्यक्रम भी होंगे।


aaराज्य स्तरीय शिखर खेल अलंकरण समारोह आज


4 December 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मंगलवार को टी.टी. नगर स्टेडियम में राज्य स्तरीय शिखर खेल अलंकरण समारोह में रियो पैरा ओलम्पिक के चार खिलाड़ी श्री देवेन्द्र झाझरिया (जेविलन थ्रो), श्री मरियप्पन थंगावेलू (हाई जम्प), सुश्री दीपा मलिक (शार्ट पुट) तथा श्री वरुण सिंह भाटी (हाई जम्प) को सम्मानित करेंगे। केन्द्रीय खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्री राज्यवर्धन सिंह राठौर की उपस्थिति में रियो पैरा ओलम्पिक के स्वर्ण पदक विजेताओं को 50-50 लाख, रजत पदक विजेता को 40 लाख तथा कांस्य पदक विजेता को 25 लाख रुपये के चेक प्रदान किये जाएंगे। इस अवसर पर खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया भी मौजूद रहेंगी। समारोह में रियो ओलम्पिक की कुश्ती खिलाड़ी सुश्री साक्षी मलिक को कांस्य पदक प्राप्त करने पर राज्य सरकार द्वारा 25 लाख रुपये की राशि प्रदान कर सम्मानित किया जाएगा। साथ ही, रियो ओलम्पिक-2016 में भारतीय महिला हॉकी दल में मध्यप्रदेश राज्य महिला हॉकी अकादमी की सुश्री अनुराधा देवी, पी. सुशीला चानू, रेणुका यादव तथा एल. फैली को 5-5 लाख रुपये दिया जाएगा।
28 खेल हस्तियाँ होगी पुरस्कृत
इस वर्ष विभिन्न खेल पुरस्कारों के लिए प्रदेश के कुल 28 खिलाड़ियों का चयन किया गया है। इसमें विक्रम अवार्ड के लिए दस खिलाड़ी, 14 खिलाड़ियों को एकलव्य पुरस्कार, दो प्रशिक्षकों को विश्वामित्र पुरस्कार, एक मलखंभ खिलाड़ी को स्व.प्रभाष जोशी पुरस्कार तथा एक खिलाड़ी को लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से नवाजा जाएगा।


aaभोपाल गैस काण्ड की विधवा महिलाओं की पेंशन जारी रहेगी


3 December 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ सेंट्रल लायब्रेरी में भोपाल गैस त्रासदी की 33वीं बरसी पर आयोजित सर्वधर्म प्रार्थना सभा में कहा कि तीन दिसम्बर 1984 की वह रात आज भी नहीं भूलती, जब हमारा जिन्दा शहर लाशों के ढेर में तब्दील हो गया था। यह ऐसी त्रासदी थी जिसे भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि हमें यह विचार करना होगा कि भौतिक प्रगति की दौड़ में हम किस दिशा में जा रहे हैं? प्रगति की अंधी दौड़ धरती पर जीवन के अस्तित्व को ही खतरे में डाल रही है। श्री चौहान ने विकास और पर्यावरण में संतुलन बनाने की आवश्यकता प्रतिपादित करते हुए कहा कि विकास के नाम पर पर्यावरण को प्रदूषित करने की प्रवृत्ति पर रोक लगानी होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि गैस त्रासदी के सभी प्रभावितों के इलाज और पुनर्वास के प्रयास लगातार जारी हैं। उन्होंने लोगों से कहा कि संकल्प लें कि अब ऐसी कोई त्रासदी दोबारा नहीं होने देंगे। श्री चौहान ने कहा है कि भौतिक प्रगति की चाह में दुनिया को ऐसा नहीं बनायें कि वह रहने लायक ही नहीं रहे। ऐसी व्यवस्था बनायें जिससे पर्यावरण और जलवायु नहीं बिगड़े और धरती जहरीली नहीं हो। श्री चौहान ने कहा कि भोपाल गैस काण्ड में विधवा हुई महिलाओं की पेंशन जारी रहेगी। प्रार्थना सभा में सनातन, इस्लाम, सिक्ख, ईसाई, जैन, बौद्ध तथा बोहरा धर्म के धर्माचार्यों द्वारा पाठ किया गया। गैस त्रासदी में दिवंगतों की स्मृति में दो मिनट का मौन रखकर उन्हें श्रद्धांजलि दी गयी। कार्यक्रम में सहकारिता एवं गैस राहत (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्रीमती गौरी सिंह और राजनैतिक दलों के प्रतिनिधि सहित गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।


aaभोपाल की नरेला विधानसभा क्षेत्र को देश की आदर्श विधानसभा क्षेत्र बनाया जाएगा


3 December 2017

सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग ने कहा है कि भोपाल की नरेला विधानसभा क्षेत्र को देश की आदर्श विधानसभा क्षेत्र के रूप में विकसित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि विधानसभा क्षेत्र में नागरिकों की सुविधा के लिए करीब 300 करोड़ रुपये के 4 फ्लाईओवर बनाये जा रहे है। इनका काम जून-2018 के पहले पूरा कर लिया जाएगा। सहकारिता मंत्री श्री सारंग आज भोपाल के वार्ड-70 में प्राइवेट बिजली नगर में सीवेज लाइन के भूमि-पूजन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। सहकारिता मंत्री ने उपस्थित नागरिकों के साथ कैडिल जलाकर भोपाल गैस त्रासदी में मृत दिवंगतों को श्रद्धांजलि दी। नरेला विधानसभा क्षेत्र के विकास कार्यों की चर्चा करते हुए सहकारिता राज्य मंत्री श्री सारंग ने कहा कि विधानसभा क्षेत्र के प्रत्येक घर में नर्मदा का पानी पहुँचाया गया है। नर्मदा पेयजल व्यवस्था पर करीब 350 करोड़ रुपये खर्च किये गए हैं। उन्होंने कहा कि विधानसभा क्षेत्र के प्रत्येक वार्ड में सी.सी. रोड बनवाये गये हैं। इन पर 325 करोड़ रुपये से अधिक की राशि खर्च की गई है। क्षेत्र में बिजली सुविधा को सुगम बनाने के लिए 700 करोड़ रुपये के कार्य करवाये गये हैं। करोंद क्षेत्र में शासकीय महाविद्यालय शुरू किया गया है। इस महाविद्यालय में छात्रों को नाममात्र की फीस पर बीबीए सहित अन्य पाठ्यक्रम में पढ़ाई करने का मौका मिला है। सहकारिता मंत्री श्री सारंग ने बताया कि चेतक ब्रिज को 6 लेन को किया जा रहा है। ब्रिज को चौड़ा करने के बाद अशोका गार्डन की तरफ जाने वाला ट्रैफिक व्यवस्थित हो सकेगा। उन्होंने प्रधानमंत्री के स्वच्छता कार्यक्रम में सक्रिय होकर सहयोग करने का आव्हान किया।


aa19 दिसम्बर से 20 जनवरी तक आदि शंकराचार्य "एकात्म यात्रा"


3 December 2017

आदि शंकराचार्य 'एकात्म यात्रा' ओंकारेश्वर, उज्जैन, पचमठा (रीवा) एवं अमरकंटक से एक साथ 19 दिसम्बर से प्रारंभ होकर 20 जनवरी, 2018 तक प्रदेश के विभिन्न जिलों से धातु संग्रहण एवं जन-जागरण करते हुए 21 जनवरी को ओंकारेश्वर पहुंचेगी। इस यात्रा का उद्देश्य आदि शंकराचार्य के दर्शन से समाज को परिचित कराना और उनकी अष्ट धातु की प्रतिमा ओंकारेश्वर में प्रतिष्ठापित करने के लिए धातु संग्रहण जन-अभियान संचालित करना है। एकात्म यात्रा राज्य आयोजन समिति के विशेष आमंत्रित सदस्य और आचार्य महासभा के महासचिव स्वामी परमानंद महाराज एवं बीकानेर के स्वामी श्री समवित सोमगिरि महाराज ने आज जनजातीय संग्रहालय, भोपाल में एकात्म यात्रा की तैयारियों की विस्तृत समीक्षा की। समीक्षा बैठक के पहले जनजातीय संग्रहालय में एकात्म मीडिया सेन्टर और केन्द्रीय कार्यालय का मंत्रोपचार से शुभारंभ किया गया। प्रमुख सचिव संस्कृति श्री मनोज श्रीवास्तव ने एकात्म यात्रा के उद्देश्य की जानकारी देते हुए बताया कि भारत की सांस्कृतिक, धार्मिक एवं आध्यात्मिक एकता में आदि गुरू शंकराचार्य के अप्रतिम योगदान के संबंध में जनजागरण, अद्ववैत वेदांत दर्शन में प्रतिपादित जीव, जगत एवं जगदीश के एकात्म बोध के प्रति जन-जागरण और ओंकारेश्वर को विश्व-स्तरीय वेदांत दर्शन केन्द्र के रूप में विकसित करना एकात्म यात्रा का प्रमुख प्रयोजन है। एकात्म यात्रा संस्कृति विभाग एवं जन-अभियान परिषद के संयुक्त सहयोग से आयोजित की जा रही है। प्रमुख सचिव संस्कृति ने बताया कि एकात्म यात्रा के लिये 4 दल बनाए गए हैं। ओंकारेश्वर (खण्डवा) यात्रा दल का नेतृत्व संत स्वामी सम्वित सोनगिरीजी करेंगे और समन्वयक श्री प्रदीप पाण्डेय होंगे। उज्जैन यात्रा दल का नेतृत्व संत स्वामी परमात्मानंद सरस्वती जी करेंगे ओर समन्वय श्री राघवेन्द्र गौतम होंगे। पचमठा (रीवा) यात्रा दल का नेतृत्व संत स्वामी अखिलेश्वरानंद जी करेंगे और समन्वयक श्री शिव चौबे होंगे और चौथे अमरकंट यात्रा दल का नेतृत्व संत स्वामी हरि हरानंद जी करेंगे एवं समन्वयक डॉ. जितेन्द्र जामदार होंगे। प्रस्तावित 4 यात्रा दलों द्वारा प्रतिदिन जन-संवाद आयोजित किया जाएगा। एकात्म यात्रा के 35 दिनों में कम से कम 140 जिला-स्तरीय जन-संवाद आयोजित किये जाएंगे। जनसंवाद के दौरान आदि शंकराचार्य के जीवन वृत्तांत पर प्रकाश डालते हुए उनके दर्शन से समाज को अवगत कराया जाएगा। एकात्म यात्रा के आखिरी दिन 22 जनवरी, 2018 को ओंकारेश्वर में आदि शंकराचार्य जी की 108 फीट ऊँची अष्ट धातु की विशाल प्रतिमा का शिलान्यास किया जाएगा। समीक्षा बैठक में खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे, जन-अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डेय, संस्कृति संचालक सहित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने बहादुर युवक स्वर्गीय दीपक साहू के पिता को आवास आवंटन पत्र सौंपा


1 December 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने लोगों के प्राणों की रक्षा करते हुये अपनी जान गंवाने वाले भोपाल के बहादुर युवक दीपक साहू के पिता श्री कैलाश साहू को आज मुख्यमंत्री निवास बुलाकर आवास आवंटन पत्र सौंपा। युवक दीपक की जुलाई 2016 में अतिवर्षा के दौरान लोगों की रक्षा करने के प्रयास में डूबने से मृत्यु हो गयी थी। भोपाल विकास प्राधिकरण द्वारा श्री साहू को जे.एन.एन.यू.आर.एम. योजना के तहत नया बसेरा कोटरा सुल्तानाबाद में आवास आवंटित किया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस संबंध में पूर्व में घोषणा की थी। श्री साहू से आवास के लिये मार्जिन मनी जमा नहीं करायी जायेगी। उन्हें योजना के तहत ई.डब्ल्यू.एस. आवास आवंटित किया गया है। स्वर्गीय युवक के पिता श्री साहू ने बताया कि अतिवर्षा के दौरान 20 लोगों की जान बचाते हुए हो उनके पुत्र की मृत्यु गई थी। मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा उस समय चार लाख रूपये की सहायता राशि भी दी गई थी। इस अवसर पर प्रदेश साहू समाज के अध्यक्ष श्री नरेन्द्र साहू भी उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने मिलाद-उन-नबी पर दी नागरिकों को बधाई


1 December 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने पैगंबर मोहम्मद साहब के जन्म-दिवस मिलाद-उन-नबी के मौके पर नागरिकों को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। श्री चौहान ने शुभकामना संदेश में कहा है कि पैगंबर मोहम्मद साहब के संदेश भाई-चारे, सहनशीलता और सहिष्णुता की प्रेरणा देते हैं। उनके मानव-कल्याण के उपदेश आज भी प्रासंगिक हैं।


aaप्रदेश में 7 दिसम्बर को मनाया जायेगा सशस्त्र सेना झंडा दिवस


1 December 2017

प्रदेश में 7 दिसम्बर को सशस्त्र सेना झंडा दिवस मनाया जाएगा। इस दिन देश के वीर शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाएगी। संचालक, सैनिक कल्याण ब्रिगेडियर आर.एस. नौटियाल ने यह जानकारी देते हुए बताया कि झंडा दिवस निधि पर दान के रूप में एकत्र राशि आयकर से पूर्णत: मुक्त है। उन्होंने आमजन से अपील की है कि सैनिक कल्याण कार्यालय में दान-राशि देकर सैनिक कल्याण में सहभागी बनें।


aaखूब खेलो, खूब पढ़ो और आसमां छू लो बच्चों : मुख्यमंत्री श्री चौहान


30 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से आज निवास पर अनाथालयों में रह रहे बेसहारा बच्चों ने भेंट की। मुख्यमंत्री ने बच्चों को गरम कपड़े भेंट किये। आत्मीय वातावरण में बच्चों ने मुख्यमंत्री का तालियां बजाकर स्वागत किया। बच्चों के स्वागत से भाव-विभोर हुए मुख्यमंत्री ने उन्हें दुलारा और खूब सारी बातें की। मुख्यमंत्री ने बच्चों से कहा कि पढ़ने-लिखने का मौका मत गंवाओ। खूब खेलो, खूब पढ़ो और आसमां छू लो। उन्होंने बच्चों से कहा कि डॉक्टर, वकील, इंजीनियर अफसर जो चाहे बन सकते हैं, यदि मन में ठान लें। उन्होंने कहा कि मेहनत करने से ही आगे बढ़ते हैं और पढ़ने से ही ऊँचा पद पाते हैं। सुखी बनते हैं। उल्लेखनीय है कि एक प्रमुख हिन्दी अखबार द्वारा बेसहारा बच्चों की पढ़ाई की देखरेख, स्वास्थ्य परीक्षण की जिम्मेदारी ली गई है। हर साल बेसहारा बच्चों को समाज के विशिष्ट व्यक्तियों से मिलाया जाता है और उन्हें शैक्षणिक भ्रमण पर ले जाया जाता है


aaगैस त्रासदी की 3 दिसम्बर को 33वीं बरसी


30 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान भोपाल गैस त्रासदी की 33वीं बरसी पर 3 दिसम्बर को बरकतउल्ला भवन, सेन्ट्रल लायब्रेरी भोपाल में प्रात: 10.30 बजे आयोजित सर्वधर्म प्रार्थना सभा में शामिल होंगे। सभा में दिवंगत गैस पीड़ितों को श्रद्धांजलि दी जाएगी इस मौके पर धर्मगुरुओं द्वारा विभिन्न धर्मग्रन्थों का पाठ किया जाएगा।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान के मुख्यमंत्रित्व के 12 वर्ष पूर्ण


29 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को मुख्यमंत्री के रूप में बारह वर्ष पूरे होने पर जनप्रतिनिधियों, समाज के प्रबुद्धजनों और अधिकारियों-कर्मचारियों ने मुख्यमंत्री निवास पहुंचकर बधाई और शुभकामनाएं दीं। मुख्यमंत्री निवास में सुबह से ही नागरिकों का पहुंचना शुरू हो गया था। गणमान्य नागरिकों ने मुख्यमंत्री को गुलदस्ते देकर और मालाएं पहनाकर अभिनन्दन किया, बधाइयां दीं और उनके यशस्वी जीवन की कामना की। मुख्यमंत्री ने कहा कि आम आदमी के जीवन में सुख, शांति और समृद्धि लाना ही मेरे जीवन का मिशन है। इस मौके पर मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान भी मौजूद थी। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्रीमती ललिता यादव, स्कूल शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह, विधायक श्री विष्णु खत्री एवं श्री रामेश्वर शर्मा, पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री अशोक बर्णवाल ने मुख्यमंत्री को बधाई दी और उनके यशस्वी जीवन की कामना की।


aaमुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के 12 वर्ष पूर्ण होने नेताजी सुभाषचन्द्र बोस के सम्मान से नवाजा जायेगाः आलोक शर्मा, सुरेन्द्रनाथ सिंह


28 November 2017

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी जिला भोपाल की लाल परेड ग्रांउड स्टेडियम में आयोजित बैठक में महापौर श्री आलोक शर्मा एवं जिला अध्यक्ष व विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह ने बताया कि पार्टी कार्यकर्ताओं के परिश्रम व जनता के आशीर्वाद से मध्यप्रदेश में लगातार तीसरी बार सरकार बनी है। प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान नित नए विकास के कीर्तिमानों के साथ 29 नवंबर को 12 वर्ष पूर्ण कर नया इतिहास बनायेंगे। हरियाणा के राज्यपाल प्रो. कप्तानसिंह सोलंकी द्वारा 29 नवंबर को लाल परेड ग्रांउड स्टेडियम में शाम 6 बजे मुख्यमंत्री को नेताजी सुभाषचन्द्र बोस सम्मान से नवाजा जायेगा। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने 12 वर्षो में भारतीय जनता पार्टी के विचारों एवं प्रदेश की जनता के विश्वास से सेवा समर्पण और सुशासन से विकास के नए आयाम बनाए है। प्रदेश में चल रही 12 प्रमुख योजनाओं का लाभ लेने वाले प्रत्येक जिले में कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। जिसमें मुख्यमंत्री लाड़ली लक्ष्मी योजना, मुख्यमंत्री कन्यादान एवं निकाह योजना, मेधावी छात्र योजना, मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना, मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना, अटल ज्योति अभियान, मुख्यमंत्री मजदूर सुरक्षा योजना, अन्नपूर्णा योजना, मुख्यमंत्री छात्र गृह योजना, भावांतर योजना, बलराम ताल योजना, महिला सशक्तिकरण योजना शामिल है। उन्होंने बताया कि युवा मोर्चा द्वारा प्रत्येक वार्ड में एक साथ स्वच्छता सेवा दिवस के रूप में मनाया जायेगा तथा स्वच्छता सेवकों (सफाई कर्मियों) का सम्मान किया जायेगा। कार्यक्रमों में मोर्चा, प्रकोष्ठों की सहभागिता सुनिश्चित होगी। बैठक में प्रदेश उपाध्यक्ष श्री विजेश लुणावत, सांसद श्री आलोक संजर, श्री राहुल कोठारी, श्रीमती उषा चतुर्वेदी, श्री ओम यादव, श्री रामदयाल प्रजापति, श्री भगवानदास सबनानी, श्री श्याममोहन श्रीवास्तव, श्री चेतन सिंह, श्री सत्यार्थ अग्रवाल, श्री लिलि अग्रवाल, अशोक सेनी सहित जिला पदाधिकारी उपस्थित थे। उक्त आशय की जानकारी जिला मीडिया प्रभारी राजेन्द्र गुप्ता ने दी।


aaदेश-विदेश में उदाहरण बनता मध्यप्रदेश


28 November 2017

मध्यप्रदेश आज देश का हृदय प्रदेश होने के साथ ही विकास के लिए पहचान बनाने वाले प्रदेशों में शामिल है। शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि, सिंचाई, उद्योग, बिजली, पर्यटन, रोजगार के क्षेत्रों के साथ ही अच्छी सड़कों के‍ निर्माण के लिए मध्यप्रदेश में बेहतरीन कार्य हुआ है। प्रदेश की जनता प्रगति के प्रयासों में सहभागी हुई है। किसान, विद्यार्थी, महिलाएं, बच्चे, नौकरी पेशा लोग, मजदूर और अन्य सभी वर्ग प्रसन्न हैं। सभी जानते हैं कि मध्यप्रदेश में सरकार ने अधोसंरचना विकास को प्राथमिकता दी है। मध्यप्रदेश में विकास के हर क्षेत्र में अनूठा कार्य हुआ है। मध्यप्रदेश की कई योजनाओं को अन्य प्रदेश लागू कर चुके हैं। यही कारण है कि मध्यप्रदेश देश-विदेश में एक उदाहरण बन रहा है। ऐसा कोई क्षेत्र नहीं है जिसमें प्रगति के नए आयामों ने आकार न लिया हो। उदाहरण के लिए मध्यप्रदेश में आज से 14 वर्ष पहले सिंचाई का प्रतिशत सिर्फ साढ़े सात लाख हेक्टेयर था। आज जल संसाधन और नर्मदा घाटी विकास विभागों के प्रयासों से लगभग 40 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई हो रही है। जल संसाधन विभाग ने 60 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई का लक्ष्य वर्ष 2022 तक प्राप्त करने का रखा है। आज मध्यप्रदेश में अच्छी सिंचाई व्यवस्था का ही यह परिणाम है, कि बीच-बीच में अपना म.प्र. सूखे की स्थिति का सामना करने के बावजूद निरंतर "कृषि कर्मण अवार्ड" प्राप्त कर रहा है। यह बात कोई एक व्यक्ति नहीं कह रहा। आप मंडी की आवक के आंकड़े देख लीजिए। मंडी टैक्स का रिकार्ड भी देखा जा सकता है। कृषि क्षेत्र में डबल डिजिट में ग्रोथ है। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के नेतृत्व की ही यह उपलब्धि है कि आज एक बीमारू कहे जाने वाले राज्य को विकासशील बनाकर उसे विकसित राज्यों की श्रेणी में शामिल होने योग्य बनाया जा सका है। शिवराज जी का यह भी स्वप्न है कि डिजीटल इंडिया के निर्माण में मध्यप्रदेश की महत्वपूर्ण भूमिका हो। जहाँ मंत्रालय स्तर पर समाधान ऑन लाइन और वीडियो कान्फ्रेंसिंग जैसी अनेक व्यवस्थाएं लागू की गई हैं, वहीं राज्य में कार्य कर रहे कियोस्क सेंटर जनता को अनेक तरह की सुविधाएं प्रदान कर रहे हैं। विधानसभा के प्रश्नों के उत्तर भी ऑनलाइन दिए जा रहे हैं। आज राज्य का प्रत्येक तबका प्रसन्न है। आप सभी को स्मरण होगा ही कि आज से 14 वर्ष पहले बिजली कभी-कभी आती थी, अब कभी-कभी जाती है। यदि कानून व्यवस्था की बात करें तो यह सभी जानते हैं कि मध्यप्रदेश्‍ा की धरती से अब डकैत समस्या लगभग समाप्त हो चुकी है। दस्यु और गिरोह खत्म हैं। डाकू अब कहानियों और किस्सों में ही बचे हैं। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के नेतृत्व में गत 12 वर्ष प्रदेश की प्रगति के वर्ष रहे हैं। इस अवधि में कोई ऐसा क्षेत्र नहीं, जिसमें विकास की पहल न हुई हो, आमजन का भी विकास में अच्छा सहयोग मिला है। आज का दिन मुख्यमंत्री जी, जन प्रतिनिधियों और आमजन को हार्दिक बधाई देने का दिन है। स्वर्णिम मध्यप्रदेश के लिए मध्यप्रदेश के जन-जन को मिलकर प्रयास बढ़ाने हैं। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के नेतृत्व में सफल 12 वर्ष पूर्ण होने पर ह्रदय से बधाई।


aaस्वच्छता अभियान के रोल मॉडल दिव्यांग तुषार को मिला डिजिटल श्रवण यंत्र


28 November 2017

स्वच्छता अभियान का रोल मॉडल बन चुका बालाघाट जिले के ग्राम कुम्हारी का 8 वर्षीय दिव्यांग बालक तुषार अब सुन सकेगा। बालाघाट में जिला प्रशासन ने कल तुषार का सार्वजनिक स्वागत कर उसे डिजिटल श्रवण यंत्र प्रदान किया। अब तुषार सबकी बात सुन सकेगा। जिला प्रशासन ने तुषार की शिक्षा व्यवस्था का उचित प्रबंध भी सुनिश्चित किया है। ज्ञातव्य है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 26 नवम्बर को आकाशवाणी से प्रसारित मन की बात कार्यक्रम के 38वें संस्करण में देशवासियों से बात करते हुए तुषार की गांव को खुले में शौच से मुक्त कराने की पहल की खूब तारीफ की थी। प्रधानमंत्री ने कहा था कि तुषार जैसे उदाहरण हम सबके लिए प्रेरणा हैं।


aaप्रदेश और देश के नव-निर्माण में समाज का सहयोग जरूरी : मुख्यमंत्री श्री चौहान


27 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश और देश के नव-निर्माण में समाज को सरकार के साथ कदम से कदम मिलाकर सहयोग करना होगा। जब सारे स्वैच्छिक संगठन एकजुट होकर यह प्रयास करेंगे तो प्रदेश और देश निश्चित ही तेजी से बदलेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ मुख्यमंत्री निवास पर जन-अभियान परिषद द्वारा आयोजित मुख्यमंत्री उत्कृष्ट स्वैच्छिक संगठन पुरस्कार वितरण समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने समारोह में जिला और विकासखंड स्तर पर उत्कृष्ठ कार्य करने वाले स्वैच्छिक संगठनों को पुरस्कृत किया। कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री श्री रूस्तम सिंह भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान अच्छा काम करने वालों को मेडल दिया जाएगा। जन-अभियान परिषद द्वारा समाज सेवा के क्षेत्र में विशिष्ट प्रकृति वाले कार्य किये जा रहे हैं। जन-अभियान परिषद द्वारा अलग-अलग क्षेत्रों में काम कर रहे स्वैच्छिक संगठनों को एक छत के नीचे लाया गया है। परिषद ने पर्यावरण, नदी संरक्षण, जल संरक्षण, सामाजिक कुरीतियों के विरूद्ध जागरूकता, नर्मदा सेवा यात्रा, सिंहस्थ और शिक्षा के प्रसार के लिये काम किया है। राज्य सरकार के सभी महत्वपूर्ण अभियानों में जन-अभियान परिषद का सहयोग रहा है। स्वैच्छिक संगठनों की ताकत से असंभव कार्य को भी पूरा किया जा सकता है। श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा एक मिशन था, यह दूसरी नदियों के लिये भी जारी रहेगा। जबलपुर में आगामी 11 दिसम्बर को नर्मदा सेवा समितियों का सम्मेलन आयोजित किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भारत को सांस्कृतिक रूप से एक करने का काम आदि शंकराचार्य ने किया था। उन्होंने दुनिया को अद्वेत दर्शन दिया था और बताया था कि हर प्राणी में एक ही चेतना है। आदि गुरू शंकराचार्य की विशाल प्रतिमा ओंकारेश्वर में स्थापित की जायेगी। इस प्रतिमा के लिये हर गाँव से कलश में मिट्टी लायी जायेगी। आदि गुरू एकात्म यात्रा का नेतृत्व संतगण और समाज करेगा। श्री चौहान ने कहा कि यह यात्रा आगामी 19 दिसम्बर से शुरू होगी तथा 22 जनवरी को समाप्त होगी। उन्होंने इस यात्रा में जनअभियान परिषद से सक्रिय भागीदारी का आग्रह किया। कार्यक्रम में जन-अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डे ने स्वागत भाषण दिया और कार्यक्रम की रूपरेखा बतायी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम में 44 जिला तथा 182 विकासखंड स्तरीय मुख्यमंत्री उत्कृष्ट स्वैच्छिक संगठन पुरस्कार वितरित किये। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान, राज्य खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे, जन-अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री राघवेन्द्र गौतम, जन-अभियान परिषद के कार्यपालक निदेशक श्री धीरेन्द्र पाण्डे, आदिगुरू एकात्म यात्रा के समन्वयक श्री विजय दुबे भी उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री पद की मिसाल हैं श्री शिवराज सिंह चौहान


28 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से मैं जब-जब मिला, एक बात हमेशा मेरा ध्यान आकर्षित करती थी। वह थी उनका कमजोर तबके और महिलाओं के उत्थान के लिए कुछ कर गुजरने की दृढ़ इच्छा-शक्ति। यह विचारधारा तब और पुष्ट हुई, जब मैंने श्रम, अल्पसंख्यक एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण, पशुपालन, मछलीपालन, कुटीर एवं ग्रामोद्योग मंत्री का काम सम्हाला। मुख्यमंत्री इन विभागों की चर्चाओं और बैठकों में काफी संवेदनशील हो जाया करते थे। शायद यह पहली बार हुआ है कि किसी प्रदेश के मुख्यमंत्री में आज तीर्थ-दर्शन योजना के माध्यम से किसी बुजुर्ग को अपना बेटा दिखता है, युवाओं के लिए पढ़ाई से लेकर रोजगार तक की विभिन्न योजनाओं के कारण युवा वर्ग इन्हें अपना मामा मानते हैं। महिलाओं की सशक्तिकरण के लिए किये गये प्रयासों ने महिलाओं के ह्रदय में इन्हें भाई का मजबूत ओहदा दिया है। मुख्यमंत्री बनने के पहले भी श्री चौहान गरीब-बेसहारा कन्याओं का विवाह करवाते थे। सीमित संसाधनों के कारण उस समय उनकी हर गरीब कन्या का विवाह कराने की इच्छा हर बार सफल नहीं पाती थी। इस इच्छा की पूर्ति के लिये मुख्यमंत्री बनते ही उन्होंने लाड़ली लक्ष्मी योजना और मुख्यमंत्री कन्यादान योजना लागू की। मैंने जीवन में पहली बार देखा है कि बेटियों के बारे में सदियों से अमरबेल की तरह गहरी जड़ें जमाई कुरीतियाँ कैसे बदलती है। कन्या जन्म अब माँ-बाप के माथे पर चिंता की रेखाएँ नहीं खुशियाँ लेकर आता है। लाड़ली लक्ष्मी योजना और मुख्यमंत्री कन्यादान योजना इसका साक्षात प्रमाण हैं। आज जहाँ लाखों गरीब माता-पिता की कन्याओं के हाथ सरकार की सहायता से पीले हो गए हैं और वे अपना सुखी जीवन जी रही हैं, वहीं लगभग 26 लाख कन्याओं को लाड़ली लक्ष्मी योजना का भरपूर लाभ मिला है। इसलिये गरीब माँ-बाप मुख्यमंत्री को आशीर्वाद देते नहीं थकते हैं। महिलाओं पर अत्याचार और अपराध रोकने में मुख्यमंत्री ने न केवल पहल की है, बल्कि केबिनेट में 12 साल या उससे कम उम्र की लड़कियों से रेप अथवा गैंगरेप के आरोपी को फांसी की सजा का कानूनी प्रावधान तय करने का निर्णय लिया। यह देश में पहली बार हो रहा है। उम्मीद है जिस तरह से लाड़ली लक्ष्मी और मुख्यमंत्री कन्यादान निकाह/विवाह योजना का अनुसरण दूसरे राज्यों ने किया है, वैसे ही यह प्रावधान भी दूसरे राज्यों के लिये मिसाल बनेगा। महिलाओं को सरकारी नौकरियों में 33 प्रतिशत और स्थानीय निकायों एवं संविदा शाला शिक्षक पदों पर भी 50 प्रतिशत आरक्षण देकर मुख्यमंत्री ने महिलाओं को आर्थिक रूप से सशक्त बना दिया है। किसानों के हित में भी क्रांतिकारी निर्णय लिए गये हैं। किसानों के नुकसान की भरपाई करने वाली भावांतर योजना भी दूसरे राज्यों के लिए अध्ययन का विषय बन रही है। वर्ष 2003 में किसानों को 18 प्रतिशत ब्याज दर पर कृषि ऋण दिये जाते थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ब्याज दरों को लगातार घटाते हुए शून्य प्रतिशत कर दिया। सिंचाई रकबे में लाखों हेक्टेयर वृद्धि होने से सिंचाई रकबा बढ़ा और कृषि लाभ का धंधा बनी है। प्रदेश ने लगातार 5 कृषि कर्मण अवार्ड जीते। श्री शिवराज सिंह चौहान ने खेतिहर मजदूरों की कमजोर सामाजिक और आर्थिक अवस्था को सुधारने के लिए मुख्यमंत्री सुरक्षा योजना शुरू कर भूमिहीन खेतिहर मजदूरों को भी लाभान्वित किया है। गेहूँ, धान, प्याज के समर्थन मूल्य व बोनस घोषित हुए। किसानों को सस्ती और भरपूर बिजली दी जा रही है। अनुसूचित जाति-जनजाति के किसानों को विशेष लाभ दिए गये हैं। प्राकृतिक आपदा से हुए नुकसान की भरपाई के लिए प्रधानमंत्री फसल योजना लागू की गई है। किसानों की आय को दोगुना करने के लिए पशुपालन और मछलीपालन को भी प्रोत्साहित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना, मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना, मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना, मुख्यमंत्री युवा इंजीनियर कांट्रेक्टर योजना आदि और युवाओं को कौशलयुक्त बनाने के लिए राज्य कौशल मिशन की सहायता से युवाओं को रोजगार देने के प्रयास जारी हैं। प्रदेश की आर्थिक उन्नति के लिए ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के उत्साहजनक परिणाम मिले हैं। आम लोगों को लोक सेवाएँ मिलने में कोई कठिनाई नहीं हो, इसके लिए मुख्यमंत्री ने लोक सेवा गारंटी अधिनियम लागू किया है। आम जनता से जुड़े विभागों की 164 सेवाओं को इस अधिनियम में शामिल किया गया है। जन-शिकायतों के निवारण के लिए श्री चौहान ने सी.एम. हेल्पलाइन 161 के रूप में अभिनव पहल की है। यह कॉल-सेंटर रोज सुबह 7 से रात 11 बजे तक काम करता है। मैंने हमेशा देखा कि मुख्यमंत्री गरीबों की स्वास्थ्य सेवाओं के प्रति चिंतित रहते हैं। उनके दखल के कारण ही प्रदेश के शासकीय अस्पतालों में आज राज्य बीमारी सहायता योजना, मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना, बाल स्वास्थ्य योजना, नि:शुल्क डायलिसिस, कीमोथैरेपी की व्यवस्थाएँ सुनिश्चित हो पाई हैं। अब आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लोग न केवल महंगा इलाज करवा पा रहे हैं, बल्कि बहुत बड़ी संख्या में लोगों को नि:शुल्क दवाइयाँ भी मिल रही हैं। आज गाँव-गाँव तक सड़कों की पुख्ता व्यवस्था है। इससे प्रदेश के सर्वांगीण विकास को वांछित गति मिली है। प्रदेश में गरीबों को एक रुपये किलो में गेहूँ, चावल और नमक मिल रहा है। होशंगाबाद जिले के गाँव बावड़िया की रहने वाली श्रीमती विद्या तंवर और गेंदाबाई कहती हैं कि पेट की चिंता न होने से हम अपना पैसा दूसरे कामों में खर्च करने लगे हैं। इससे हमको सुकून भी मिला है और जीवन में उम्मीदें भी बढ़ने लगी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि वे 12 वर्षों तक मुख्यमंत्री रहने के बाद भी कभी एक प्रशासक के रूप में लोगों के बीच नहीं लाते। लोग आज भी उन्हें अपने परिवार का भाई, बेटा, मामा और अपने बीच का ही समझते हैं। इसीलिए समस्या होने पर उनसे गुहार करने में नहीं सकुचाते। श्री चौहान ने महिला, हम्माल, कामकाजी महिला, किसान, मछुआ को अपनेपन का एहसास कराया है। उन्होंने उस मिथक को तोड़ा है जो पहले एक मुख्यमंत्री और आम जनता के बीच हुआ करता था। मुख्यमंत्री का मध्यप्रदेश को देश का अग्रणी राज्य बनाने का सपना एक सार्थक मुकाम तय कर चुका है। इसकी जड़ में है गरीबों का उत्थान, महिलाओं का सशक्तिकरण और कमजोर तबकों का विकास। मुख्यमंत्री अपने लक्ष्य को एक दिन अवश्य हासिल करेंगे क्योंकि उनके ज़हन में हमेशा कमजोर वर्गों की तरक्की और विकास के लिए मंथन चलता रहता है। वे मानते हैं गरीब का उत्थान प्रदेश का उत्थान है और मुख्यमंत्री रहते हुए वे अपने इस सपने को बेहतर ढंग से सच कर सकते हैं।


aaगोविन्दपुरा औद्योगिक क्षेत्र में होंगे विकास कार्य-राज्य मंत्री श्री पाठक


27 November 2017

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री संजय सत्येन्द्र पाठक ने कहा है कि गोविन्दपुरा औद्योगिक क्षेत्र के विकास के द्वितीय चरण के कार्यों के साथ लम्बित विकास कार्य यथाशीध्र प्रारंभ करवाये जाएंगे। श्री पाठक ने कहा कि गोविन्दपुरा औद्योगिक क्षेत्र के विकास कार्य पूरे होने के बाद इनका संधारण गोविन्दपुरा इंडस्ट्रीज एसोसियेशन करेगी। इस पर एसोसियेशन के चेयरमैन श्री एस. के. पाली एवं अन्य प्रदाधिकारियों ने सहमति दी। क्षेत्रीय विधायक श्री बाबूलाल गौर ने बताया कि औद्योगिक क्षेत्र गोविन्दपुरा में 30 कि.मी. रोड में से 14 कि.मी. का कांक्रीट रोड प्रथम चरण में दो साल पहले बन चुका है। शेष निर्माण कार्य प्राथमिकता से पूरा कराया जाना जरूरी है


aaपारदर्शिता से काम करें ताकि ऑबजर्वर की जरूरत नहीं पड़े


27 November 2017

पूरी निर्वाचन प्रक्रिया में इतनी पारदर्शिता होना चाहिये कि ऑबजर्वर की जरूरत ही नहीं पड़े। मतदाता सूची में सभी पात्र मतदाताओं का नाम जोड़ें। राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री आर. परशुराम ने उप-जिला निर्वाचन अधिकारियों, सहायक रिटर्निंग आफिसर, मास्टर ट्रेनर्स और ई-मैनेजर्स के प्रशिक्षण में यह निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि भलमनसाहत को कमजोरी नहीं समझें, लापरवाही पर कड़ी कार्रवाई की जायेगी। प्रशिक्षण में धार, बड़वानी, खंडवा, गुना, शिवपुरी, अनूपपुर, रीवा, देवास, सीधी और सिंगरौली जिले के अधिकारी शामिल हुए। इन जिलों के नगरीय निकायों में आगामी दिनों में निर्वाचन प्रस्तावित हैं। श्री परशुराम ने कहा कि किसी भी चुनाव को छोटा मत समझो। हर चुनाव अपने आप में महत्वपूर्ण है। निर्वाचन मेन्युएल को गंभीरता से पढ़ें। उन्होंने कहा कि हर अधिकारी-कर्मचारी अपनी ड्यूटी का निर्वहन पूरी निष्ठा के साथ करे। सचिव राज्य निर्वाचन आयोग श्रीमती सुनीता त्रिपाठी ने कहा कि आयोग के निर्देशानुसार निर्वाचन प्रक्रिया पूरी करें। उप सचिव श्री दीपक सक्सेना ने ऑनलाइन- नाम निर्देशन एवं ई.व्ही.एम. के संचालन के संबंध में बताया। उप सचिव श्री गिरीश शर्मा ने कानून व्यवस्था, आदर्श आचरण संहिता, निर्वाचन व्यय लेखा एवं सेंस के बारे में जानकारी दी। प्रशिक्षणार्थियों की शंकाओं का समाधान भी किया गया।


aaखाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री धुर्वे ने मिलर्स के साथ बैठक में की समीक्षा


27 November 2017

खाद्य, नागरिक आपूर्ति, उपभोक्ता संरक्षण एवं श्रम मंत्री श्री ओमप्रकाश धुर्वे ने धान की मिलिंग के लिए मिलर्स का पंजीयन 1 दिसम्बर से शुरू करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि मिलिंग का कार्य 16 जनवरी 2018 से शुरू किया जाये और इसे जुलाई 2018 के पहले पूरा कर लिया जाये। मंत्री श्री धुर्वे आज मंत्रालय में खरीफ विपणन वर्ष 2017-18 में समर्थन मूल्य पर उपार्जित धान की कस्टम मिलिंग की कार्य-योजना की समीक्षा कर रहे थे। समीक्षा बैठक में प्रमुख सचिव खाद्य श्रीमती नीलम शमी राव, एमडी नागरिक आपूर्ति निगम श्री विकास नरवाल, महाप्रबंधक एफसीआई श्री अभिषेक यादव, मिलर्स एसोसिएशन के पदाधिकारी, मार्कफेड, वेअर हाउस और सहकारिता विभाग के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। मंत्री श्री धुर्वे ने कहा कि धान प्रदाय से लेकर चावल जमा तक की प्रक्रिया के कम्प्यूटराइजेशन, मिलिंग क्षमता के मान से अच्छी एवं गुणवत्तापूर्ण मिलिंग करने वाले मिलर्स को प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। उन्होंने कहा कि मिलर्स की माँग के अनुसार मिलिंग बहुल जिलों में पर्याप्त भंडारण क्षमता उपलब्ध करवाई जा रही है। मिलर्स एसोसियेशन के पदाधिकारियों ने कहा कि 16 जनवरी 2018 से मिलिंग कार्य शुरू कर जुलाई माह के पहले पूरा कर लिया जायेगा।


aaस्कूल के बच्चे अब यस सर की जगह जय-हिन्द सर बोलेंगे


26 November 2017

प्रदेश के सभी एक लाख 22 हजार शासकीय स्कूलों के बच्चे अब यस सर-यस मैडम के स्थान पर जय-हिन्द सर/जय-हिन्द मैडम बोलेंगे। स्कूल शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह ने आज शौर्य स्मारक में 69वें एनसीसी दिवस पर यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि प्राइवेट स्कूलों को भी इस संबंध में एडवाइजरी जारी की जाएगी। स्कूल शिक्षा मंत्री ने कहा कि खण्डवा में एनसीसी की एयर विंग और नेवल विंग शुरू की जाएगी। प्रदेश के अन्य स्थानों में भी एनसीसी की विंग्स शुरू करने में सरकार हरसंभव सहयोग करेगी। श्री शाह ने कहा कि अभी तक लगभग 11 लाख से अधिक लोगों ने शौर्य स्मारक भ्रमण किया है। मेजर जनरल ए.के. सपरा ने एनसीसी की उपलब्धियों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 'नमामि देवि नर्मदे' अभियान में एनसीसी कैडेट्स ने नर्मदा नदी के तट पर 40 हजार पौधे लगाए। श्री सपरा ने बताया कि 1964 में पचमढ़ी में एनसीसी कैडेट श्री अमृत लाल को वीरता पुरस्कार मिल चुका है। श्री शाह ने उल्लेखनीय सेवाओं के लिए एनसीसी के अधिकारियों और कैडेट्स को पुरस्कृत किया। उन्होंने लावण्या कुशवाहा, ऋषभ सिंह, आयुष तिवारी, एम.पी. सराठे, दर्शना मिश्रा, आयुष सिंह, अर्चना कुशवाहा, शिवानी, राहुल सिह, प्रमित वदेका, यशराज सिंह, छाया विश्वकर्मा, योगेश गुप्ता, आदित्य पटेल, विकास पाल, ए.सी. जैन, श्रव्या मेहता, शुभांगी शर्मा, शालिनी और रेवती प्रभाकरण को पुरस्कृत किया। इस दौरान कैडेट्स ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये।


aaसंविधान से ही मिला सभी वर्गों को समान अधिकार


26 November 2017

देश के संविधान से ही सभी वर्गों को समान अधिकार मिले हैं। आजादी के विशेषज्ञों ने देश के संविधान का निर्माण किया। इस कार्य में डॉ. भीमराव अम्बेडकर का महत्वपूर्ण योगदान था। यह बात राजस्व, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने नया बसेरा भोपाल में संविधान निर्माण दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में कही। कार्यक्रम में अनुसूचित जाति, जनजातीय कल्याण तथा सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य भी शामिल हुए। श्री गुप्ता ने कहा कि डॉ. अम्बेडकर ने अपने ज्ञान के आधार पर देश-विदेश में सम्मान प्राप्त किया, देश को गौरव दिलाया। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार भारतीय संविधान का सम्मान करती है। सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने कहा कि डॉ. अम्बेडकर ने संविधान में सभी के साथ समानता के व्यवहार की व्यवस्था को प्राथमिकता दी। विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान स्व. श्री राजा दुबे के गृह ग्राम पहुंचे


26 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आज सुबह भाजपा के सागर जिलाध्यक्ष रहे स्वर्गीय श्री राजा दुबे के आकस्मिक निधन पर उनके सागर जिले में स्थित गृह ग्राम तेन्दूडाबर पहुंचे। मुख्यमंत्री स्वर्गीय श्री दुबे के परिजनों से मिले और गहन शोक-संवेदना व्यक्त की। श्री चौहान ने स्वर्गीय श्री राजा दुबे को पुष्पांजलि अर्पित की और दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की। केन्द्रीय राज्य मंत्री डॉ. वीरेन्द्र कुमार, प्रदेश के गृह एवं परिवहन मंत्री श्री भूपेन्द्र सिह, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव, सांसद श्री लक्ष्मीनारायण यादव एवं श्री प्रहलाद पटेल, विधायक श्री शैलेन्द्र जैन एवं श्री प्रदीप लारिया, सहित प्रशासनिक अधिकारी, जन-प्रतिनिधि एवं बड़ी संख्या में क्षेत्र के लोगों ने स्वर्गीय श्री दुबे के गृह ग्राम पहुंचकर पुष्पांजलि अर्पित की।


aaप्रदेश में 26 जनवरी से भू-अधिकार अभियान चलाया जाएगा-मुख्यमंत्री श्री चौहान


24 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आगामी 26 जनवरी से प्रदेश में भू-अधिकार अभियान चलाया जाएगा। अभियान के दौरान सभी पात्र भूमिहीनों को रहने की जमीन का अधिकार दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि वर्ष 2022 तक प्रदेश में पात्र आवासविहीन परिवारों को पक्के आवास दिये जाएंगे। मुख्यमंत्री ने गुरुवार को सीहोर जिले की नसरुल्लागंज तहसील के ग्राम सनकोटा में आदिवासी सम्मेलन, नशामुक्ति अभियान एवं शिवपंथी सत्संग मेले को संबोधित करते हुए यह घोषणा की। मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान भी सम्मेलन में उपस्थित रहीं। श्री चौहान ने सम्मेलन में चरण पादुका अभियान, पोषण आहार वितरण तथा गणवेश निर्माण योजना की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पोषण आहार तथा गणवेश निर्माण का कार्य स्थानीय महिला स्व-सहायता समूह के माध्यम से करवाया जाएगा। इस कार्य के लिए समूह के सदस्यों को आवश्यकता अनुसार प्रशिक्षण दिलाने की व्यवस्था भी की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि अनमोल मानव जीवन का दुश्मन है नशा। समाज की तरक्की के लिए नशे से दूर रहना पहली आवश्यकता है। मुख्यमंत्री ने आदिवासी समाज को नशा त्यागने की शपथ भी दिलाई।
ग्राम सनकोटा में खुलेगा शासकीय हाई स्कूल
मुख्यमंत्री ने राज्य शासन की नि:शुल्क शिक्षा, गणवेश, स्मार्ट फोन और मेधावी छात्र योजना की जानकारी देते हुए आदिवासी समाज से अपील की कि बच्चों को स्कूल भेजें, शिक्षा की पूरी व्यवस्था राज्य सरकार कराएगी। बालक-बालिकाओं के लिए नवीन छात्रावास का निर्माण भी करवाया जाएगा। श्री चौहान ने ग्राम सनकोटा में आगामी शिक्षा सत्र से शासकीय हाई स्कूल शुरू करने की घोषणा की। ग्रामोद्योग मंत्री श्री अन्तर सिंह आर्य और श्री रमेश बारेला, श्रीमती निर्मला बारेला तथा श्री सुनील बारेला विशेष रूप से उपस्थित थे। गुरू श्री कालूसिंह, माताजी सुमली बाई सहित अन्य गुरू तथा मार्कफेड के अध्यक्ष श्री रमाकांत भार्गव, वन विकास निगम के अध्यक्ष श्री गुरू प्रसाद शर्मा, अन्य जन-प्रतिनिधियों के साथ बड़ी संख्या में विभिन्न जिलों से पहुँचे बारेला आदिवासी वर्ग के लोग मौजूद थे।
शिवराज सिंह चौहान को दिल से चाहते हैं बारेला आदिवासी
बारेला समाज के ओमप्रकाश बारेला, बावडीखेड़ा प्राथमिक शाला में शिक्षक हैं। वे बताते हैं कि समाज में पहले नशे को बुराई नहीं माना जाता था। हर नौजवान नशा करता था। पिछले पांच सालों में काफी परिवर्तन आया है। नौजवानों ने शराब को त्यागने का संकल्प लिया है। समाज के पढ़े-लिखे लोग खुद आगे आकर समाज को सुधारने का संकल्प लेकर काम कर रहे हैं। हर साल बड़ा आयोजन कर समाज के मुखिया महाराज कालूबाबा के मार्गदर्शन में दूध पिलाकर शराब से दूर रहने का संकल्प दिलाते हैं। चकल्दी ग्राम पंचायत के सचिव राकेश बारेला कहते हैं कि नशामुक्ति अभियान पिछले काफी समय से चलाया जा रहा है। बड़वानी, सेंधवा से इस अभियान की शुरूआत हुई थी। अब प्रदेश में जहाँ-जहाँ बारेला समाज के लोग रहते हैं, वहाँ हम कार्यक्रम करते हैं। इससे समाज के नजरिये में काफी सुधार दिख रहा है। हम बारेला समाज के युवाओं के आदर्श हैं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान। हमसे स्नेह रखते हैं और हम भी उन्हें दिल से चाहते हैं। उनकी नशामुक्त समाज बनाने की बात का भी समाज पर बहुत असर हुआ है। शेर सिंह बारेला समाज के बीच रहकर जन-जागरण का काम करते हैं। पेशे से वे प्रेरक शिक्षक हैं और लाड़कुई प्राथमिक शाला से जुड़े हैं। वे बताते हैं कि बारेला समुदाय में भगवान शिव के प्रति बहुत आस्था है लेकिन नशे का भी चलन था। अब बहुत परिवर्तन आया है। वे कहते हैं कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का बारेला समाज के बीच में आना और नशामुक्ति की बात करना भी हमारे लिये बहुत बड़ी बात है। आयोजन से जुड़े सुनील बारेला बताते हैं कि समाज में हर साल शिवपंथी सत्संग मेले का आयोजन किया जाता है। पहली बार यह रफीकगंज ग्राम पंचायत के सनकोटा गांव में हो रहा है। बारेला समाज में खरीफ फसलों के पकने और कटने पर नाग दीवाली मनाने की परंपरा है। पिछले साल यह कार्यक्रम खरगोन जिले की भगवानपुरा तहसील के गाँव पिपलझोला में हुआ था।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा आजादी को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए युवाओं का आव्हान


24 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने त्याग, तपस्या, संघर्ष एवं बलिदान से देश को मिली आजादी को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिये युवाओं का आव्हान किया है। श्री चौहान आज इंदौर के नेहरू स्टेडियम में राष्ट्रगीत वंदे-मातरम् के सामूहिक गायन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वन एवं वन्य जीवों की रक्षा तथा पर्यावरण, नदी और जल संरक्षण जैसे महत्वपूर्ण कार्यों में युवा वर्ग को अपनी सक्रिय सहभागिता सुनिश्चित करना चाहिए। श्री चौहान ने कहा कि अनेकता में एकता हमारे देश की पहचान है। इस पहचान को हमें बनाये रखना होगा। आजादी के संघर्ष का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि क्रांतिकारियों की तपस्या और बलिदान के फलस्वरूप हमें यह आजादी मिली है। राष्ट्रगीत वन्दे-मातरम् से क्रांतिकारियों को बल मिलता था। श्री चौहान ने कहा कि हर नागरिक को देश की एकता और अखण्डता का महत्व समझना होगा और इसकी रक्षा करना होगा। आचार्य श्री ऋषभचंद सुरीश्वर महाराज ने कहा कि भारत संस्कारों की भूमि है। यहाँ विभिन्न धर्मों के मनीषियों ने जन्म लिया है। कार्यक्रम में विधायक श्री कैलाश विजयवर्गीय, महापौर श्रीमती मालिनी गौड़, हिन्दू अध्यात्मिक एवं सेवा फाउंडेशन के केन्द्रीय समन्वय श्री गुणवंत सिंह कोठारी तथा श्री विनोद अग्रवाल भी उपस्थित थे। सांस्कृतिक एवं नैतिक प्रशिक्षण संस्थान द्वारा आयोजित कार्यक्रम में 51 हजार विद्यार्थियों ने एक साथ राष्ट्रगीत वंदे-मातरम् का गायन किया। इस अवसर पर देश भक्ति से ओतप्रोत सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किये गये।


aaस्कूल यूनिफार्म की सिलाई महिला स्व-सहायता समूह करेंगे


24 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में स्कूल यूनिफार्म की सिलाई का कार्य महिला स्व-सहायता समूहों से करवाया जाएगा। श्री चौहान आज बड़वानी जिले के पानसेमल में विकास यात्रा के दौरान महिला स्व-सहायता समूह सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में रेत का कारोबार ग्राम पंचायत स्तर पर करवाया जाएगा, ठेके नहीं दिये जाएंगे। उन्होंने कहा कि महिला स्व-सहायता समूह भी रेत कारोबार में भाग ले सकते हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विकास यात्रा के दौरान बड़वानी जिले में 7.75 अरब रुपये के 44 विकास कार्यों का लोकार्पण एवं भूमि-पूजन किया।
प्रमुख घोषणाएँ
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पानसेमल क्षेत्र में नर्मदा का जल उपलब्ध करवाने के लिए सर्वे करवाया जाएगा। उन्होंने ग्राम पंचायत निवाली एवं ठीकरी को अगले चुनाव के पहले नगर परिषद का दर्जा दिलाने और पानसेमल में सिंचाई तालाबों का सर्वे करवाकर आवश्यक होने पर तालाब निर्माण करवाने की घोषणा की। श्री चौहान ने कहा कि निवाली में 100 सीटर कन्या छात्रावास का निर्माण होगा और पानसेमल तथा निवाली में शासकीय महाविद्यालय के परीक्षा केन्द्र खोले जाएंगे। उन्होंने पलसूद को स्थाई टप्पा तहसील का दर्जा देने की भी घोषणा की।
535 एस.एच.जी. को 734.08 लाख रुपये वितरित
श्री चौहान ने बड़वानी जिले के सातों विकासखण्डों में स्व-सहायता समूह की महिलाओं के प्रशिक्षण एवं आजीविका गतिविधियों के संचालन के लिए 50-50 लाख रुपये की राशि स्वीकृत की। साथ ही प्रधानमंत्री ग्रामीण परिवहन योजना के 4 आजीविका एक्सप्रेस वाहन वितरित किए। बैंक सखी योजना में 6 महिलाओं को लेपटॉप और बैंक लिंकेज योजना में 535 स्व-सहायता समूहों को 734लाख से ज्यादा की राशि तथा समुदाय निवेश निधि योजना में 37 समूहों को 27 लाख 75 हजार रुपये की राशि प्रदान की।
गौमाता-पूजन से सम्मेलन की शुरूआत
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सम्मेलन की शुरूआत गौ-माता-पूजन से की। श्री चौहान ने गोपाल पुरस्कार योजना में प्रथम विजेता गौ-माता को टीका लगाकर गुड़-चना खिलाया। साथ ही गौ-माता संरक्षक को पुरस्कार राशि प्रदान की। मुख्यमंत्री ने बड़वानी जिले में संचालित ग्रीन कमाण्डो योजना के कैलेण्डर का विमोचन भी किया।
रोजगार मेला और प्रदर्शनी बने आकर्षण
विकास यात्रा के दौरान पानसेमल में लगाये गये रोजगार मेला का जिले के बेरोजगार युवाओं ने भरपूर फायदा उठाया। काफी संख्या में बेरोजगार युवक-युवतियों ने मेले में रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने वाली योजनाओं की जानकारी ली। महिला स्व-सहायता समूहों ने सभास्थल पर निर्मित सामग्रियों की प्रदर्शनी लगाई। लोगों ने प्रदर्शनी को देखा भी और समूह द्वारा निर्मित सामग्रियाँ भी खरीदीं। मुख्यमंत्री श्री चौहान चल-समारोह के साथ सम्मेलन में पहुँचे। इस दौरान विभिन्न सामाजिक संगठनों, गणमान्य नागरिकों और आम जनता ने मुख्यमंत्री का आत्मीय स्वागत किया। विकास यात्रा में प्रभारी मंत्री कुँवर विजय शाह, पशुपालन मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य, सांसद श्री सुभाष पटेल, विधायक श्री कैलाश विजयवर्गीय और श्री दीवान सिंह पटेल, अन्य जन-प्रतिनिधि, स्व-सहायता समूह की महिलाएँ और ग्रामीणजन मुख्यमंत्री के साथ रहे।


डिजिटल प्रेस क्लब का गठन:शिव हर्ष सुहालका बने अध्यक्ष: डिजिटल मीडिया का विकास और जन सरोकार होगा प्रमुख मुददा
Our Correspondent :23 November 2017

डिजिटल मीडिया से जुड़े महत्वपूर्ण पत्रकारों की बैठक में डिजिटल प्रेस क्लब का गठन किया गया. इसमें क्लब के पदाधिकारियों की नियुक्ति के साथ क्लब के भविष्य के कामकाज पर गंभीर चर्चा हुई. डिजिटल प्रेस क्लब के नवनियुक्त अध्यक्ष शिव हर्ष सुहालका ने क्लब के गठन के सम्बन्ध में जानकारी देते हुए बताया की डिजिटल मीडिया में काम कर रहे पत्रकारों के मुद्दों तथा डिजिटल मीडिया के समक्ष पैदा हो रही चुनौतियों के लिए क्लब की जरुरत काफी समय से महसूस की जा रही थी. साथ ही पत्रकारिता के इस दौर में मौजूद चुनौतियों से निपटने के लिए क्लब की महत्ता और बढ़ जाती है. उन्होंने कहा कि समाज के हर क्षेत्र में जारी क्षरण से पत्रकारिता भी प्रभावित हो रही है. ऐसे में पत्रकारीय सरोकारों को पत्रकारिता के एजेंडे में प्रमुखता से बनाये रखना आवश्यक है. सहालका ने कहा की डिजिटल प्रेस क्लब का गठन इन्हीं सवालों को लेकर किया गया है. क्लब की बैठक में शामिल पत्रकारों ने पत्रकारिता और क्लब के गठन से सम्बंधित मुद्दों पर चर्चा की. बैठक में सर्वसम्मत से क्लब के पदाधिकारी मंडल का भी गठन किया गया. इसमें शिव हर्ष सुहालका अध्यक्ष, डॉ नवीन आनंद जोशी और के के अग्निहोत्री उपाध्यक्ष, विनय द्विवेदी सचिव, कैलाश गुप्ता और आशीष महिर्षि सह सचिव तथा अनिल सिंह कोषाध्यक्ष बनाये गए हैं. बैठक में क्लब के भविष्य के कामों को लेकर भी महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए.


aaयुवाओं को गैर शासकीय क्षेत्र में भी रोजगार के अवसर मुहैया करवाये जाएंगे


23 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश के युवाओं को गैर शासकीय क्षेत्रों में भी रोजगार के अवसर मुहैया करवाये जायेंगे। इसके लिये युवाओं को समुचित प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि युवा उद्यमी योजना में उद्यम स्थापित करने के लिये युवाओं के ऋण का ब्याज पाँच वर्ष तक राज्य सरकार भरेगी। श्री चौहान ने युवाओं से अपील की कि उद्यम स्थापित कर मध्यप्रदेश के विकास में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज अनूपपुर जिले के जैतहरी में विकास यात्रा तथा कौशल विकास-सह-अन्त्योदय मेले को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में पैदा हुआ कोई व्यक्ति अब भूमिहीन नहीं रहेगा। मध्यप्रदेश में जन्मे सभी भूमिहीन व्यक्तियों को प्रदेश सरकार भूमि मुहैया कराएगी। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में 14 अप्रैल 2018 से पूर्व सभी भूमिहीनों के पास भूमि होगी। इसके लिये मध्यप्रदेश में विशेष अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना एक अभिनव योजना है। इस योजना में मध्यप्रदेश में बड़ी संख्या में आवास बनाये जा रहे हैं, जिसका लाभ प्रदेश के लोगों को ही मिलेगा।
तेंदूपत्ता संग्राहकों को जूते, चप्पल, पानी की कुप्पी मुहैया कराने चलेगा अभियान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि तेंदूपत्ता संग्राहकों को जूते, चप्पल और पानी की कुप्पी मुहैया कराने के लिये प्रदेश में शीघ्र ही अभियान चलाया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जैतहरी क्षेत्र के लोगों की समस्याओं का तेजी से निराकरण किया जा रहा है। श्री चौहान ने अनूपपुर जिले में 336 करोड़ रूपये से अधिक लागत की सड़कों और अन्य विकास कार्यों का भूमि-पूजन एवं शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि अनूपपुर जिले को किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं रखा जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के 3500 हितग्राहियों को 15 करोड़ रूपये अधिक के हितलाभों का वितरण किया। प्रारंभ में मुख्यमंत्री ने कन्या-पूजन और पं. दीनदयाल के छायाचित्र पर माल्यार्पण किया। कार्यक्रम में प्रभारी मंत्री श्री संजय सत्येन्द्र पाठक, सांसद श्री ज्ञान सिंह एवं श्री प्रभात झा, विधायक श्री रामलाल रोतेल, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती रूपमती सिंह, विन्ध्य विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री रामदास पुरी, अन्त्योदय समिति सदस्य श्री ओमप्रकाश द्विवेदी, अन्य जन-प्रतिनिधि और बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।


aaनव-नियुक्त आयुक्त जनसम्पर्क श्री पी. नरहरि ने किया कार्यभार ग्रहण


23 November 2017

नव-नियुक्त आयुक्त जनसम्पर्क श्री पी. नरहरि ने आज जनसम्पर्क संचालनालय में पदभार ग्रहण किया। स्थानान्तरित आयुक्त जनसम्पर्क श्री अनुपम राजन ने नव-नियुक्त आयुक्त का स्वागत करते हुए उन्हें पदभार सौंपा। नव-नियुक्त आयुक्त जनसम्पर्क श्री पी. नरहरि ने पदभार ग्रहण करने के पश्चात संचालनालय के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक ली। श्री नरहरि ने संचालनालय की विभिन्न शाखाओं का अवलोकन भी किया।


aaदेश की टेक्सटाइल इंडस्ट्री का हब बना मध्यप्रदेश


23 November 2017

उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा है कि मध्यप्रदेश देश की टेक्सटाइल इण्डट्रीज का हब बन गया है। श्री शुक्ल आज स्पेन में आयोजित मध्यप्रदेश बिजनेस सेमिनार को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने प्रदेश में उपलब्ध भूमि बैंक का हवाला देते हुये उद्योगपतियों को प्रदेश में उद्योग लगाने के लिये आमंत्रित किया। श्री शुक्ल ने कहा कि प्रदेश में उद्योग लगाने के लिये हर सुविधा मौजूद है। उद्योगपतियों के लिये मध्यप्रदेश बेस्ट डेस्टीनेशन स्टेट के रूप में स्थापित होने की ओर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि दुनिया के विभिन्न देशों के उद्योगपति मध्यप्रदेश में निवेश करने के लिये आकर्षित हो रहे हैं। हर सेक्टर में निवेश के लिये सभी तरह की सहूलतों को ध्यान में रखा गया है। सेमिनार में स्पेन में भारत के एम्बेसेडर श्री डी.बी. वेंकटेश वर्मा ने उदघाटन सत्र को संबोधित किया। डायरेक्टर इंटरनेश्नल रिलेशन स्पेन चेंबर ऑफ कामर्स श्री अल्फ्रेडो बोनट तथा म.प्र. ट्रायफेक के प्रबंध संचालक श्री डी.पी. आहुजा ने बिजनेस अपर्चुनिटीज़ इन मध्यप्रदेश एंड एविलेबल इंसेंटिव्स पर विस्तार से जानकारी दी।


aaप्री-फेब पद्धति से 6 करोड़ 74 लाख में बना बैरसिया आई.टी.आई. भवन


23 November 2017

तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी और सांसद श्री आलोक संजर ने बैरसिया में नव-निर्मित मॉडल आई.टी.आई. भवन का लोकार्पण किया। भवन का निर्माण 6 करोड़ 74 लाख रूपये की लागत से प्री-फेब पद्धति से किया गया है। श्री जोशी ने इस अवसर पर छात्रावास का निर्माण करवाने और संस्था में सीट क्षमता दोगुनी करने की घोषणा की। श्री जोशी ने कहा कि भोपाल में बनने वाले ग्लोबल स्किल पार्क में विद्यार्थियों को विश्व स्तरीय प्रशिक्षण दिया जाएगा। यहाँ से प्रशिक्षित विद्यार्थियों को देश ही नहीं, विदेश में भी नौकरी मिलेगी। श्री जोशी ने कहा कि प्रदेश में 221 आई.टी.आई. के नये भवन बना दिये गये है। वर्कशॉप का सुदृढ़ीकरण किया जा रहा है। पदों को भरने की कार्यवाही की जा रही है।
वाट्सएप और फेसबुक की बजाय प्रेक्टिकल करें
श्री जोशी ने कहा कि िवद्यार्थी वाट्सएप और फेसबुक में समय बरबाद करने की बजाय अपने ट्रेड से संबंधित प्रेक्टिकल करें। इससे कुशलता बढेगी। उन्होंने मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना के बारे में जानकारी दी। हितग्राहियों को स्वीकृत ऋण के प्रमाण-पत्र भी दिये। सांसद श्री आलोक संजर ने कहा कि प्रधानमंत्री के 'स्किल इंडिया' के सपने को मध्यप्रदेश साकार कर रहा है। उन्होंने कहा कि युवा कुशलता हासिल कर स्व-रोजगार स्थापित करें। विधायक श्री विष्णु खत्री ने कहा कि भारत की पहचान ज्ञान के कारण ही है। उन्होंने कहा कि रोजगारोन्मुखी शिक्षा से ही रोजगार मिलेगा। श्री खत्री ने क्षेत्रीय समस्याओं की भी जानकारी दी।
हर्राखेड़ा स्कूल की प्राचार्य को हटाने के निर्देश
स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री श्री जोशी ने बच्चों की शिकायत पर स्कूल पहुँचकर बच्चों से बात की। उन्होंने शासकीय मॉडल हायर सेकेण्डरी स्कूल हर्राखेड़ा की प्राचार्य श्रीमती किरण चौरसिया को हटाने के निर्देश दिये। श्री जोशी ने बच्चों द्वारा प्राचार्य के विरूद्ध लगाये गये आरोपों की जाँच करने के निर्देश भी मौके पर उपस्थित जिला शिक्षा अधिकारी को दिये। श्री जोशी ने मुख्यमंत्री स्व-रोजगार एवं कौशल सम्मेलन में लगी प्रदर्शनी का अवलोकन किया। प्रदर्शनी में विभिन्न आई.टी.आई. के विद्यार्थियों द्वारा बनाये गये मॉडल एवं उपयोगी उपकरण प्रदर्शित किये गये हैं। इस मौके पर विभिन्न जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaविधानसभा क्षेत्रों में वीवीपेट-ईवीएम की जानकारी देगी जागरूकता वेन


22 November 2017

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्रीमती सलीना सिंह ने मतदाताओं को ईवीएम और वीवीपेट की जानकारी देने के लिए जागरूकता वेन को हरी झंडी दिखाकर सीईओ कार्यालय से रवाना किया। मतदाता जागरूकता वेन एक माह तक जिलों में ईवीएम और वीवीपेट के उपयोग के अलावा वोटर लिस्ट के विशेष संक्षिप्त कार्यक्रम की जानकारी देगी। प्रदेश के सभी जिलों के लिए 37 मतदाता जागरूकता वेन ईवीएम और वीवीपेट के उपयोग का प्रचार-प्रसार करेगी। मतदाताओं को वीवीपेट पर आधरित लघु फिल्म भी दिखाई जाएगी। श्रीमती सलीना सिंह ने आज ग्वालियर और चम्बल संभाग के जिलों के लिये पांच जागरूकता वेन को रवाना किया। इस अवसर पर श्रीमती सलीना सिंह ने कहा कि जागरूकता वेन मतदाताओं को निर्वाचन संबंधी प्रेरक जानकारी देगी। आकर्षक नारों से युक्त वेन प्रदेशवासियों को अपना वोटर आई.डी. कार्ड बनवाने की प्रक्रिया से भी अवगत करवायेगी। जिलों में कलेक्टर के मार्गदर्शन में इनका रूट निर्धारित होगा। राज्य स्तर पर वेन की मॉनीटरिंग होगी। जागरूकता वेन सभी 230 विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र में पहुँचेगी। इस मौके पर संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री एस.एस. बसंल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


aaवीरांगनाओं का इतिहास नारी शक्ति का प्रमाण- राज्य मंत्री श्री आर्य


22 November 2017

अनुसूचित जाति कल्याण राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने आज वीरांगना झलकारी देवी जयंती महोत्सव के अवसर पर जी.टी.बी. काम्पलेक्स में स्थापित वीरांगना झलकारी देवी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। श्री आर्य ने इस अवसर पर कहा कि आजादी की लड़ाई में वीरांगनाओं का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। उन्होने कहा कि वीरांगनाओं का इतिहास नारी शक्ति का प्रमाण हैं। श्री आर्य ने कहा कि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में बालिकाओं और महिलाओं को वीरांगनाओं से प्रेरणा लेकर स्वयं को समर्थ बनाना होगा। जयंती महोत्सव में विधायक श्री सुरेन्द्र नाथ सिंह और अनुसूचित जाति मोर्चा के अध्यक्ष श्री सूरज केरो उपस्थित थे। कार्यक्रम की शुरूवात में कोरी/कोली समाज द्वारा शोभायात्रा निकाली गई।


aaएक भारत-श्रेष्ठ भारत योजनातंर्गत संगाई और कोहिमा में एकता उत्सव का आयोजन


22 November 2017

एक भारत-श्रेष्ठ भारत की अभिनव योजना के अंतर्गत इंफाल (मणिपुर) में संगाई महोत्सव और कोहिमा (नागालैंड) में हार्नबिल फेस्टिवल का आयोजन किया जाएगा। मध्यप्रदेश के लोक कलाकार दोनों आयोजन में लोक नृत्य करामा और सैला की आकर्षक प्रस्तुति देंगे। एक भारत-श्रेष्ठ भारत की योजना वास्तव में भारतीय संस्कृति में विभिन्नता में एकता के प्रदर्शन का उत्सव है। लोक ककलाकारों के समूह प्रमुख श्री पतीराम मार्को (डिण्डोरी) के नेतृत्व में 16 कलाकारों का दल 28 और 29 नवम्बर को संगाई महोत्सव में प्रस्तुति देगा। इसी क्रम में 2 दिसम्बर को मध्यप्रदेश के लोक कलाकार समूह द्वारा हार्नबिल फेस्टिवल में लोक-नृत्य का प्रदर्शन करेंगे। उल्लेखनीय है कि करमा और सैला गोंड जनजाति के लोकप्रिय नृत्य हैं।
करमा नृत्य
करमा नृत्य कर्म की प्रेरणा देने वाला है। ग्रामवासी श्रम को ही कर्म मानते हैं। पूर्वी मध्यप्रदेश में कर्मपूजा का उत्सव मनाया जाता है। उत्सव में करमा नृत्य होता है। विंध्य और सतपुड़ा क्षेत्र में बसने वाले आदिवासी कर्मपूजा नहीं करते, केवल अपने मन के उल्लास, उमंग और प्रेरणा पाने के लिए करमा नृत्य करते हैं। बारिश को छोड़ सभी ऋतुओं में गोंड आदिवासी करमा नृत्य करते हैं। यह नृत्य जीवन की व्यापक गतिविधि के बीच विकसित होता है। इस कारण करमा गीतों में बहुत विविधता है। मध्यप्रदेश में करमा नृत्य गीत का क्षेत्र बहुत विस्तृत है। सुदूर छत्तीसगढ़ से लगाकर मण्डला के गोंड और बैगा आदिवासियों तक इसका विस्तार देखनो को मिलता है।
सैला नृत्य
सैला नृत्य शरद ऋतु की चांदनी रातों में किया जाता है। हाथों में लगभग सवा हाथ के डण्डे के कारण इसका नाम सैला पड़ा। आदिदेव को प्रसन्न करने के लिए सैला नृत्य का प्रचलन है। कहते है सरगुजा की रानी से अप्रसन्न होकर आदिदेव बधेसुर अमरकंटक चले गये थे, वहां के बाँसों को काटकर इस नृत्य का चलन हुआ। करमा सैला गोंड जनजाति का लोकप्रिय नृत्य है।


aaमहिला अपराधों की रोकथाम के लिये संवेदनशीलता और तत्परता से कार्रवाई करें


21 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महिला अपराधों की रोकथाम के लिये संवेदनशीलता और तत्परता से कठोर कार्रवाई करें, जिससे अपराधियों में डर पैदा हो। अपराधों पर नियंत्रण के लिये संभागवार रणनीति बनायी जाये। साईबर अपराधों से निपटने के लिये जिला स्तर पर सुदृढ़ व्यवस्था करें। चिटफंड कंपनियों की धोखाधड़ी रोकने के लिये जागरूकता अभियान चलायें। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ पुलिस मुख्यालय में आई.जी.-डी.आई.जी. कान्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर गृह मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में पुलिस हर चुनौती का सामना करने में खरी उतरी है। इसकी उपलब्धियाँ गर्व करने के लायक हैं। कानून व्यवस्था ऐसा क्षेत्र है जिसमें लगातार नई चुनौतियाँ सामने आती रहती हैं। जिस तेजी से तकनीक का विकास हो रहा है, उसी क्रम में अपराध के तरीके भी बदलते जा रहे हैं। साईबर क्राईम एक नई चुनौती के रूप में समाज में पनप रहा है। हमें इसे सख्ती से रोकना होगा। इसके लिये महिला छात्रावास, कॉलेज, स्कूल, कोचिंग सेंटर जैसे स्थानों पर लगातार पुलिस पेट्रोलिंग की जाये। श्री चौहान ने कहा कि बीट स्तर तक की टीम लगातार गश्त करें। क्षेत्र में पुलिस की प्रभावी उपस्थिति रहे। संसाधनों का उचित उपयोग कर लोगों में सुरक्षा का विश्वास पैदा करें।
जनता को हेल्पलाईन नंबर और ई-कॉप जैसी सुविधा की व्यापक जानकारी दें
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि जनता को हेल्पलाईन नंबर और ई-कॉप जैसी सुविधा की व्यापक जानकारी दें। छात्राओं को आत्मरक्षा के लिये प्रशिक्षण दें और जागरूक बनायें। पुलिस बल के अलावा ग्राम तथा नगर सुरक्षा समितियों, एन.सी.सी., एन.एस.एस., शौर्या बल, तेजस्विनी समूह और स्व-सहायता समूहों की मदद लें। सभी जिलों में वन स्टॉप सेंटर स्थापित करें। स्कूली बसों में ड्राईवर-कंडक्टरों का चरित्र सत्यापन अनिवार्य रूप से किया जाये तथा स्कूली बसों में महिला कंडक्टर होने के नियम का सख्ती से पालन करायें। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूली बसों में सीसीटीव्ही कैमरे समय-सीमा में लगाये जायें। सभी महिला छात्रावासों में रसोईया और सफाईकर्मी महिलाएं हों। महिला छात्रावासों के प्रवेश वाले रास्ते पर सीसीटीव्ही कैमरे लगाये जायें। आगामी विधानसभा सत्र में जनसुरक्षा विधेयक लाया जाये।
मादक पदार्थो की रोकथाम की विशेष रणनीति बनायें
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि साम्प्रदायिक घटनाओं को रोकने के लिये कई जिलों ने अच्छा काम किया है। इस तरह के मामलों में लगातार सतर्कता बनाये रखें। पुलिस विभाग की अलग-अलग शाखाओं और अन्य विभागों में समन्वय को और बेहतर बनायें। पारदर्शी और भ्रष्टाचारमुक्त व्यवस्था के लिये बीस वर्ष की सेवा तथा पचास वर्ष की आयु वाले निष्क्रिय और गलत रिकार्ड वाले अमले की अनिवार्य सेवानिवृत्ति के प्रकरण बनायें। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने रेत उत्खनन नीति में परिवर्तन किये हैं। इससे लोगों को जरूरत के अनुसार सहजता से रेत मिलेगी तथा रोजगार के अवसर भी बढ़ेगे। उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग रेत के अवैध उत्खनन को रोकने की कार्रवाई जारी रखें। मादक पदार्थो की रोकथाम की विशेष रणनीति बनायें। बड़े अपराधियों पर सख्त कार्रवाई करें। खरगौन-बड़वानी जिले में अवैध कारोबार में लिप्त सिकलीगरों को रोजगार से लगाने की योजना बनायें।
हर जिले में साईबर सुरक्षा के लिये विशेष सेल
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि साईबर सुरक्षा व्यवस्था को और बेहतर बनायें। हर जिले में साईबर सुरक्षा के लिये विशेष सेल बनायें। सी.एम. हेल्पलाईन के प्रकरणों में प्रभावी कार्रवाई करें। इलेक्ट्रानिक मीडिया में आने वाले भ्रामक विज्ञापनों पर कानूनी प्रावधान के तहत कार्रवाई करें। एन.एस.ए. तथा जिलाबदर की प्रभावी कार्रवाई करें। सूदखोरी को रोकने के लिये सख्त कानूनी कार्रवाई करें। आदिवासी क्षेत्रों में बेटियों की गुमशुदगी के प्रकरणों में विशेष ध्यान देकर कार्रवाई करें। गौ-वंश की अवैध निकासी रोकने के लिये कार्रवाई करें। प्रदेश में कानून व्यवस्था और शांति का वातावरण रखने के लिये पुलिस विभाग बेहतर कार्रवाई जारी रखे। पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला ने बताया कि अगले वर्ष की चुनौतियों को ध्यान में रखते हुये अपराधों पर नियंत्रण की कार्य-योजना बनाई गई है। अगले तीन वर्षों में प्रत्येक थाने में दो-दो महिला आरक्षकों की पदस्थापना की जायेगी। थानों में महिला रेस्ट रूम की व्यवस्था भी की जायेगी। गौवंश की अवैध निकासी को रोकने के लिये प्रदेश की सीमा से आने-जाने वाले रास्तों पर विशेष निगरानी रखी जा रही है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्टेटेस्टिकल डाटा - 2017 का विमोचन किया। बैठक में पुलिस मुख्यालय के वरिष्ठ अधिकारीगण तथा प्रदेश के आई.जी.-डी.आई.जी. उपस्थित थे।


aaमहाविद्यालयीन छात्रावास निर्माण के लिये 203 करोड़ रूपये मंजूर


21 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में जनजातीय कार्य विभाग की महाविद्यालयीन छात्रावास योजना को आगामी 3 वर्ष तक निरंतर संचालन का अनुमोदन प्रदान किया गया है। योजना के अंतर्गत महाविद्यालयों में अध्ययनरत विद्यार्थियों को आवासीय सुविधा उपलब्ध कराने के लिए वर्तमान में संचालित 84 बालक और 68 कन्या कुल 152 पोस्ट-मै‍ट्रिक छात्रावासों को महाविद्यालयीन छात्रावास में परिवर्तित किया जा रहा है। इनमें 7600 विद्यार्थी निवासरत हैं। साथ ही, पूर्व वर्ष के 32 भवन-विहीन छात्रावास और 30 नवीन छात्रावास इस प्रकार कुल 62 भवन निर्माण आगामी 3 वर्षो में कराये जायेंगे। मंत्रि-परिषद ने योजना को आगामी 3 वर्ष तक निरंतर संचालन के लिए 203 करोड़ 32 लाख रूपये की स्वीकृति प्रदान की। मंत्रि-परिषद ने जनजातीय कार्य विभाग की कक्षा 9 व 10 की छात्रवृत्ति योजना को भी निरंतर संचालन की स्वीकृति प्रदान की है। योजना के अंतर्गत वर्ष 2017-18 से 2019-20 तक निरंतर संचालन और 290 करोड़ 82 लाख 20 हजार रुपये की स्वीकृति प्रदान की गई। आगामी 3 वर्षो में कक्षा 9-10 के 13 लाख 56 हजार विद्यार्थियों को लाभांवित करने का लक्ष्य है। मंत्रि-परिषद ने राजस्व विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए आवास गृहों के निर्माण को निरंतर रखने की सहमति दी है। आवास गृहों के निर्माण पर वर्ष 2017-18 में 38 करोड़ रुपये, वर्ष 2018-19 में 37 करोड़ 40 लाख रुपये तथा वर्ष 2019-20 में 24 करोड़ 80 लाख रूपये व्यय किये जाएंगे। मंत्रि-परिषद द्वारा सामाजिक न्याय एवं नि:शक्‍तजन कल्याण विभाग द्वारा नि:शक्‍तजन को बाधारहित वातावरण देने के लिए टायलेट, रैम्प, लिफ्ट, भवनों के निर्माण के लिए जारी योजना, अंध मूक बधिर की वृत्तियां तथा बहुविकलांग/मानसिक रूप से अविकसित नि:शक्‍तजन को सहायता अनुदान योजना को निरंतर रखने की स्वीकृति प्रदान की गई है। मंत्रि-परिषद ने वर्ष 2017-18 में प्रदेश के किसानों को प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों के माध्यम से शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर अल्पावधि फसल ॠण दिये जाने की गत वर्ष 2016-17 में लागू योजना को निरंतर रखने का निर्णय लिया। नगर परिषद ओंकारेश्‍वर द्वारा अधिरोपित तीर्थयात्री कर को शासन द्वारा समाप्‍त किया गया है। इस कर से होने वाली वार्षिक आय की क्षतिपूर्ति नगर परिषद को शासन द्वारा प्रदान करने का निर्णय मंत्रि-परिषद द्वारा लिया गया है। मंत्रि-परिषद ने स्वतंत्रता संग्राम सैनिक चिकित्सा सहायता अनुदान नियम-1986 में संशोधन कर 50 हजार रुपये तक चिकित्सा अनुदान राशि स्वीकृति के अधिकार संबंधित जिला कलेक्टर को देने का निर्णय लिया। साथ ही 50 हजार रुपये से अधिक और लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा विभिन्न गंभीर रोगों के उपचार के लिए निर्धारित शासकीय दरों की सीमा तक राशि स्वीकृति के सभी अधिकार जिला कलेक्टर की अनुशंसा पर संभागीय आयुक्त को देने की मंजूरी भी दी गई।


aa22 नवंबर को मुख्यमंत्री श्री चौहान एक क्लिक से करेंगे 135 करोड़ का भुगतान


21 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 22 नवंबर को उज्जैन में किसान महासम्मेलन में भावांतर भुगतान योजना में पंजीकृत एक लाख 35 हजार 545 किसानों के खातों में एक क्लिक से लगभग 135 करोड़ की राशि डालेंगे। यह सभी किसान वे हैं जिन्होंने 16 से 31 अक्टूबर की अवधि में कृषि उपज मंडियों में योजना में अधिसूचित फसलों का विक्रय किया है। कार्यक्रम में भावांतर राशि के भुगतान से लाभांवित होने वाले किसानों में सबसे ज्यादा 12 हजार 41 राजगढ़ जिले के, 10 हजार 290 उज्जैन जिले के, 8255 देवास जिले के और 7589 किसान सीहोर जिले के होंगे। आज दिनांक तक प्रदेश की मंडियों में भावांतर भुगतान योजना में पंजीकृत किसान 16 लाख 13 हजार मीट्रिक टन अधिसूचित फसलों का विक्रय कर चुके हैं। वर्तमान में प्रदेश के 3500 ई-उपार्जन केन्द्रों पर 15 से 25 नवंबर की अवधि में नये किसानों का पंजीयन कार्य चल रहा है। अब तक नवीन पंजीयन के लिये एक लाख 4 हजार आवेदन प्राप्त हो चुके हैं। किसान महासम्मेलन में मुख्यमंत्री श्री चौहान के उदबोधन का सीधा प्रसारण होगा। प्रदेश की 257 मंडियों में किसान सीधा प्रसारण देख सके, इसकी व्यवस्था की जा रही।


aaराज्य मंत्री श्री पाठक ने स्लीमनाबाद उप-तहसील भवन का किया लोकार्पण


21 November 2017

उच्च शिक्षा राज्य मंत्री श्री संजय-सत्येन्द्र पाठक ने आज कटनी जिले की स्लीमनाबाद में उप तहसील भवन का लोकार्पण किया। श्री पाठक ने इस अवसर पर कहा कि मध्यप्रदेश विकास यात्रा में पिछले दिनों मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कटनी जिले को 645 करोड़ रुपये से अधिक के विकास कार्यों की सौगात दी है। उन्होंने कहा कि उप-तहसील भवन का लोकार्पण भी इन्हीं सौगात में से एक है। राज्य मंत्री श्री पाठक ने कहा कि अगले शिक्षा सत्र से स्लीमनाबाद में एम.ए., बी.एस.सी. और और बी.कॉम के पाठ्यक्रम प्रारंभ हो जायेंगे। उन्होंने उप-तहसील भवन की बाउण्ड्री-वॉल बनाने और फर्नीचर उपलब्ध करवाने की घोषणा की। राज्य मंत्री श्री पाठक ने क्षेत्रीय नागरिकों द्वारा विद्युत विभाग से संबंधित शिकायतों के संदर्भ में विस्तृत निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि विद्युत विभाग का अमला विभिन्न क्षेत्रों में जाकर शिविर आयोजित कर लोगों की समस्याओं का निराकरण सुनिश्चित करें। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष कटनी, नगर निगम महापौर एवं अन्य जन-प्रतिनिधि मौजूद थे।


aaजबलपुर एवं उज्जैन इंजीनियरिंग कॉलेज बनेंगे डीम्ड यूनिवर्सिटी


21 November 2017

इंजीनियरिंग कॉलेज जबलपुर एवं उज्जैन को डीम्ड यूनिवर्सिटी बनाया जाएगा। यह कॉलेज अपना पाठ्यक्रम निर्धारित करने के साथ ही अपनी डिग्री भी देंगे। तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने डीम्ड यूनिवर्सिटी के संबंध में जरूरी कार्यवाही शीघ्र करने के निर्देश समीक्षा बैठक में दिए। श्री जोशी ने कहा कि राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय को देश के अंडर 100 विश्वविद्यालयों में लाने के लिए हर संभव प्रयास करें। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में विद्यार्थियों के लिए हेलमेट अनिवार्य किया जाए। श्री जोशी ने राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में स्पोर्ट आफिसर और जनसम्पर्क अधिकारी नियुक्त करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मूल्यांकन सहित विश्वविद्यालय की पूरी कार्य प्रणाली ऑनलाइन की जाए। विद्यार्थियों की उपस्थिति प्रतिदिन पोर्टल पर अपलोड करें। संबद्ध इंजीनियरिंग कॉलेजों एवं पॉलिटेक्निक कॉलेजों का सतत निरीक्षण करें। उद्यमिता एवं र्स्टटअप के लिये फंडिंग करें। विश्वविद्यालय के सांस्कृति कार्यक्रमों का कैलेण्डर बनायें। कुलपति डॉ. सुनील गुप्ता ने बताया कि विशनखेड़ी को गोद लिया जाएगा। यहां पर विकास के विभिन्न कार्य करवाए जाएंगे। डॉ. गुप्ता ने विश्वविद्यालय में किये जा रहे सुधारों की भी जानकारी दी। तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री ने कहा कि इंजीनियरिंग कॉलेज अपने निर्माण कार्य स्वयं करवाएं। उन्होंने कहा कि बोर्ड ऑफ गवर्नर्स की बैठक में लिए गए निर्णयों का क्रियान्वयन सुनिश्चित करें। जरूरी उपकरणों की खरीदी जैम के माध्यम से करें। श्री जोशी ने कहा कि ग्लोबल स्किल पार्क गोविन्दपुरा आईटीआई में जून माह तक शुरू करने के लिए जरूरी कदम उठाएँ। उन्होंने ग्लोबल स्किल पार्क के निर्माण के संबंध में भी आवश्यक निर्देश दिए। श्री जोशी ने एडीबी के सहयोग से बनने वाली 10 आईटीआई का निर्माण मार्च में शुरू करने के निर्देश दिए। बैठक में प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा श्री संजय बन्दोपाध्याय, संचालक कौशल विकास श्री संजीव सिंह एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


aaसहकारिता के माध्यम से रोजगार के नये अवसर सृजित करें : मुख्यमंत्री श्री चौहान


20 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सहकारिता के माध्यम से रोजगार के नये अवसर सृजित करें। अलग-अलग क्षेत्रों में सहकारी संस्थाएं बनायें और लोगों को रोजगार दिलायें। रोजगार के अवसर बढ़ाना राज्य सरकार की महत्वपूर्ण प्राथमिकताओं में शामिल है। श्री चौहान आज यहाँ अखिल भारतीय सहकारी सप्ताह के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम में सहकारिता से अंत्योदय योजना एवं कृषक सहकारी ऋण मित्र योजना का शुभारंभ किया। श्री चौहान ने इस अवसर पर सहकारिता से अंत्योदय पुस्तिका का विमोचन भी किया। समारोह में सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में सहकारिता के क्षेत्र का विस्तार हो रहा है। यह नये रूप में आगे बढ़ रहा है। खेती पर जनसंख्या के दबाव को कम करने में सहकारिता की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। कृषि के क्षेत्र में मध्यप्रदेश देश में अग्रणी है। कृषि के क्षेत्र में प्रदेश में कई अभिनव नवाचार हुये हैं, जिन्हें बाद में अन्य प्रदेशों ने दोहराया है। भावांतर भुगतान योजना अपने तरह की अनूठी योजना है, जिसमें किसानों को समर्थन मूल्य से कम मूल्य पर फसल बिकने पर भाव के अंतर की राशि दी जाएगी। आज पूरे देश में इस योजना की चर्चा है। उज्जैन में 22 नवम्बर को आयोजित कार्यक्रम में गत 16 से 31 अक्टूबर तक योजना के तहत फसल बेचने वाले किसानों के खाते में भावांतर की राशि जमा की जाएगी। सहकारी संस्थाएं इस योजना को सही परिप्रेक्ष्य में लोगों तक पहुंचायें।
सूदखोरों के खिलाफ बना कानून और सख्त होगा
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार ने कृषक उद्यमी योजना शुरू की है, जिसमें किसान के बेटा-बेटी कृषि से जुड़े उत्पादों के प्रसंस्करण की इकाई स्थापित कर सकते हैं। इसके लिये उन्हें दो करोड़ रूपये तक का ऋण उपलब्ध कराया जाएगा। साथ ही योजना में पन्द्रह प्रतिशत अनुदान और पाँच वर्ष तक पाँच प्रतिशत ब्याज अनुदान की व्यवस्था भी की गई है। रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिये सहकारी संस्थाएं छोटे स्तर पर काम कर सकती हैं। राज्य सरकार ने पोषण आहार प्रदाय का कार्य महिला स्व-सहायता समूहों के माध्यम से कराने का निर्णय लिया है। इसी तरह, रेत खदानों के संचालन के अधिकार ग्राम पंचायतों को दिये गये हैं। इसके माध्यम से रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। बेरोजगारी दूर करने के लिये जिस तरह के कामों की जरूरत है, उसका प्रशिक्षण युवाओं को दिया जाए। सहकारिता नये क्षेत्रों में प्रवेश करे। किसानों को परेशान करने वाले सूदखोरों के खिलाफ बने कानून को और सख्त बनाया जाएगा।
सहकारिता के माध्यम से कौशल उन्नयन का कार्य शुरू
सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने कहा कि सहकारिता के माध्यम से कौशल उन्नयन का कार्य प्रदेश में शुरू किया गया है। एक वर्ष में अलग-अलग क्षेत्रों में 320 नयी सहकारी संस्थाएं गठित की गई हैं। परिवहन, पर्यटन और चिकित्सा जैसे नये क्षेत्रों में सहकारी संस्थाएं गठित की गई हैं। शासकीय योजनाओं को लोगों तक पहुंचाने के लिये अगले दो माह में प्राथमिक सहकारी संस्थाओं के स्तर पर कार्यशालाएं आयोजित की जायेंगी। प्रदेश में किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज पर कृषि ऋण उपलब्ध कराया गया है। अब एक लाख रूपये कृषि ऋण लेने पर 90 हजार रूपये ही लौटाने होंगे। इन निर्णयों के माध्यम से राज्य सरकार ने कल्याणकारी राज की कल्पना को साकार किया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम में कृषक सहकारी ऋण मित्र योजना के तहत लगातार पाँच वर्ष तक समय पर कृषि ऋण चुकाने वाले किसानों का सम्मान किया तथा उन्हें प्रशस्ति पत्र दिये। कार्यक्रम में सांसद एवं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष श्री नंदकुमार सिंह चौहान, मार्कफेड के अध्यक्ष श्री रमाकांत भार्गव, राज्य वनोपज सहकारी संघ के अध्यक्ष श्री महेश कोरी, श्री नेमीचंद जैन, अपर मुख्य सचिव कृषि श्री पी.सी. मीना, प्रमुख सचिव सहकारिता श्री के.सी. गुप्ता, आयुक्त सहकारिता श्रीमती रेणु पंत सहित सहकारी बैंकों के अध्यक्ष तथा पदाधिकारी और बड़ी संख्या में किसान उपस्थित थे।


aaमहिला अपराधों के संबंध में कोताही बर्दाश्त नहीं होगी : मुख्यमंत्री श्री चौहान


20 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसमें किसी भी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। उन्होंने कहा कि महिलाओं एवं बालिकाओं के प्रति अपराध की शिकायतों का तत्काल संज्ञान लिया जाये, तुरंत परीक्षण कराकर एफआईआर दर्ज की जाये और जरूरी होने पर समय पर मेडिकल परीक्षण भी कराया जाये। महिला अपराधों में दोषी पाये गये अपराधी के ड्राईविंग लायसेंस भी निरस्त करने की कार्रवाई की जाये। मुख्यमंत्री ने सुरक्षा व्यवस्था को चुस्त-दुरूस्त बनाने के लिये कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक को संवेदनशील क्षेत्रों का संयुक्त भ्रमण करने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री आज यहाँ मंत्रालय में जिला कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों के साथ वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा के लिये किये गये उपायों की जानकारी ले रहे थे। इस मौके पर मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्पष्ट कहा कि महिलाओं के प्रति अपराध करने वालों को कड़ी सजा दिलाना सुनिश्चित किया जाये। सुरक्षा के उपायों के प्रति समाज के सभी वर्गों में जागरूकता बढ़ाई जाये। स्कूल, कॉलेज, छात्रावास, कोचिंग सेंटर एवं बाल सम्प्रेषण गृहों आदि क्षेत्रों का भ्रमण कर सुरक्षा के उपाय सुनिश्चित किये जायें। इन क्षेत्रों में सघन गश्त की जाये। कलेक्टर कम से कम माह में एक बार पुलिस अधीक्षक, महिला बाल विकास, स्वास्थ्य एवं नगरीय निकायों के अधिकारियों के साथ इस संबंध में बैठक करें। पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला ने बताया कि सभी संवेदनशील स्थानों में महिला सुरक्षा के उपाय सुनिश्चित किये जा रहे हैं। स्कूल, कॉलेज और छात्रावासों में सीसीटीव्ही कैमरे एवं चौकीदार की व्यवस्था तथा स्कूल बसों में सीसीटीव्ही कैमरे और साथ में महिला शिक्षिका का होना सुनिश्चित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि 31 दिसम्बर तक लोक परिवहन की बसों में भी सीसीटीव्ही कैमरे लगाना तय किया गया है।


aaप्रति दिन एक घंटे का समय गरीब बच्चों को बेहतर शिक्षा के लिए दें


20 November 2017

सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने कहा है कि संयम और धैर्य से किया गया काम कभी व्यर्थ नहीं जाता। यह बात उन्होंने आर.सी.व्ही.पी. नरोन्हा प्रशासन एवं प्रबंधकीय अकादमी में डिप्टी कलेक्टर के नये बैच से चर्चा के दौरान कही। अकादमी में 17 से 22 नवंबर तक आयोजित इंडक्शन प्रशिक्षण कार्यक्रम में 18 प्रशिक्षु अधिकारियों को शामिल किया गया है। श्री आर्य ने प्रशिक्षु अधिकारियों से प्रति दिन एक घंटे का समय गरीब बच्चों को बेहतर शिक्षा देने को कहा। उन्होंने कहा कि प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे गरीब बच्चों का उचित मार्गदर्शन से मार्ग प्रशस्त हो सकेगा। श्री आर्य ने कहा कि अधिकारी को जन-भावना के अनुरूप जन-कल्याण का काम करना चाहिए। परेशान व्यक्ति की समस्या हल कर उनके मन में स्थान और सम्मान प्राप्त कर सकेंगे। श्री आर्य ने कहा कि शासन की व्यवस्थाओं को और बेहतर करने के लिए क्या नवाचार किए जा सकते हैं, इस बारे में भी सोचने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि किसी भी दबाव में शासन के नियमों का उल्लंघन नहीं करना चाहिए। श्री आर्य ने कहा कि अनुभवों से ही परिपक्वता आती है। प्रत्येक दिन नई चुनौतियों का सामना कर नए अवसर प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि अधिकारी को किसी जातिगत सांचे में नहीं ढलना चाहिए। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के निरीक्षण के दौरान वहाँ की विभिन्न गतिविधियों और शासन की भिन्न-भिन्न योजनाओं को भी जांचना चाहिए। उन्होंने कहा कि बेहतर कार्य करने के लिए टाइम मैनेजमेंट बहुत जरूरी है। इस मौके पर अकादमी की महानिदेशक श्रीमती कंचन जैन भी उपस्थित थीं।


aaऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ कर बनी फिल्म रानी पद्मावती का प्रदर्शन म.प्र. में नहीं होगा


20 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि रानी पद्मावती के जीवन और शौर्य गाथा से सम्बंधित ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ कर बनी फिल्म रानी पद्मावती का प्रदर्शन मध्यप्रदेश की धरती पर नहीं होगा। श्री चौहान आज अपने निवास पर राजपूत क्षत्रिय समाज के लोगों को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि रानी पद्मावती के बलिदान का अपमान देश और प्रदेश स्वीकार नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि भोपाल में रानी पद्मावती की शौर्य गाथा को प्रदर्शित करने स्मारक स्थापित किया जाएगा। भावी पीढ़ी के लिए प्रस्तावित वीर भूमि प्रकल्प में वीरों की शौर्य गाथाओं को प्रदर्शित किया जाएगा। श्री चौहान ने कहा कि भारत ने दुनिया को वीरता का पाठ पढ़ाया है। भारत के वीरों ने अपनी गरिमा, आत्म-सम्मान और मातृभूमि के लिए प्राणों का बलिदान दिया है। अपने मान-सम्मान की रक्षा के लिए बलिदान देने की भारतवर्ष की अद्भुत वीरगाथाओं का उदाहरण पूरी दुनिया में नहीं मिलता। श्री चौहान ने कहा कि महिलाओं के सम्मान के लिए उल्लेखनीय कार्य करने वाले व्यक्ति को राष्ट्रमाता पद्मावती पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। इसी प्रकार वीरता के लिए महाराणा प्रताप पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। महारानी पद्मावती के सम्मान की रक्षा में विभिन्न जिलों से आये राजपूत समाज के प्रतिनिधि मंडलों ने रानी पद्मावती के सम्मान और गरिमा को धूमिल करने और इतिहास से छेड़छाड़ करने के षड्यंत्र के विरुद्ध मुख्यमंत्री को ज्ञापन दिए। राज्य भाजपा अध्यक्ष श्री नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि पैसों के लिए राष्ट्रमाता पद्मावती के जीवन से सम्बंधित इतिहास से छेड़छाड़ की गयी है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रमाता पद्मावती ने सिखाया कि राष्ट्र के लिए कैसे जिया जाता है। वे आम भारतीयों की प्रेरणा स्रोत हैं और सिर्फ क्षत्रिय समाज की नहीं, पूरे हिन्दुस्तान की पूज्यनीय हैं। इस अवसर पर महिला सशक्तिकरण मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस, सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग, विधायक श्री यशपाल सिसोदिया, विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह, विधायक श्री रामेश्वर शर्मा और बड़ी संख्या में राजपूत समाज के प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaइंदिरा गांधी सौहार्द्र और मिश्रीलाल गंगवाल सद्भावना पुरस्कार घोषित


20 November 2017

राज्य सरकार द्वारा वर्ष 2012 के इंदिरा गांधी साम्प्रदायिक उपद्रव रोकथाम एवं सौहार्द्र पुरस्कार और भैया श्री मिश्रीलाल गंगवाल सद्भावना पुरस्कार की घोषणा कर दी गयी है। इंदिरा गांधी साम्प्रदायिक उपद्रव रोकथाम एवं सौहार्द्र पुरस्कार के लिए श्री कवीन्द्र कियावत तत्कालीन कलेक्टर खण्डवा और श्री हरिनाराणचारी मिश्रा तत्कालीन पुलिस अधीक्षक खण्डवा का चयन किया गया है। प्रत्येक को 15-15 हजार रुपये और प्रशस्ति-पत्र से सम्मानित किया जाएगा। इसी प्रकार भैया श्री मिश्रीलाल गंगवाल सद्भावना पुरस्कार शुभम विकलांग एवं समाज-सेवा समिति और कादम्बिनी शिक्षा एवं समाज कल्याण सेवा समिति, भोपाल को दिया जाएगा। प्रत्येक को 50-50 हजार रुपये और प्रशस्ति-पत्र दिये जाएंगे। इस संबंध में पूर्व में जारी आदेश को निरस्त कर दिया गया है।


aa27 नवम्बर को होंगे संविधान दिवस के कार्यक्रम


20 November 2017

प्रति वर्ष 26 नवम्बर को संविधान दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस वर्ष 26 नवम्बर को रविवार होने के कारण 27 नवम्बर को संविधान दिवस के कार्यक्रम होंगे। इस दिन सभी शासकीय कार्यालय एवं शैक्षणिक संस्थाओं में भारत के संविधान की उद्देशिका पढ़ी जाएगी। शिक्षण संस्थाओं में संविधान की जागरूकता के लिए निबंध/वाद-विवाद प्रतियोगिता एवं भाषण आयोजित किये जाएंगे।


aaसहकारिता से अंत्योदय योजना और कृषक सहकारी ऋण मित्र योजना


19 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 20 नवम्बर को प्रदेश में सहकारिता से अंत्योदय योजना और कृषक सहकारी ऋण मित्र योजना का शुभारंभ करेंगे। शुभारंभ कार्यक्रम पूर्वान्ह 11 बजे समन्वय भवन, भोपाल में आयोजित किया जा रहा है। कार्यक्रम की अध्यक्षता संसद सदस्य श्री नंदकुमार सिंह चौहान करेंगे। सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि होंगे। अखिल भारतीय सहकारी सप्ताह के दौरान मध्यप्रदेश राज्य सहकारी संघ और मध्यप्रदेश राज्य सहकारी बैंक द्वारा संयुक्त रूप से यह आयोजन किया जा रहा है। कार्यक्रम में सहकारी संस्थाओं के पदाधिकारी एवं अधिकारी मौजूद रहेंगे। इस अवसर पर सहकारी क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों को पुरस्कृत भी किया जाएगा। कार्यक्रम में भावांतर भुगतान योजना, कौशल विकास और सहकारिता में नवाचार, डिजिटिलाइजेशन से सहकारी संस्थाओं के सशक्तीकरण विषय पर विशेषज्ञ प्रस्तुतिकरण देंगे।


मोदी सरकार की सफल आर्थिक नीतियों का एक ओर प्रमाण मुडीज का सर्वे: चौहान


17 November 2017

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमारसिंह चौहान ने कहा कि आजादी के बाद पहली बार देश में हुए ऐतिहासिक आर्थिक सुधारों का असर धीरे-धीरे दिखने लगा है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार ने आर्थिक रिफार्म कर देश की उन्नति में अहम मुकाम हासिल किया है। उन्होंने अमेरिकी क्रेडिट रेटिंग एजेंसी द मुडीज की ताजा रेंकिंग का हवाला देते हुए कहा कि मुडीज ने 13 साल बाद बदलाव करते हुए रेटिंग को ठ।।3 से घटाकर ठ।।2 कर दी है। यह प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के जज्बें और जुनून का ही परिणाम है कि विश्व में भारत की साख लगातार बढी है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने सत्ता में आने के बाद लगातार कोशिश की कि किस तरह रेटिंग में सुधार हो। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आर्थिक रिफार्म की दिशा में नोटबंदी और जीएसटी जैसे अनेक साहसिक ऐतिहासिक निर्णय लिए। जिसके नतीजे भी सामने आए है। रेटिंग में 13 सालों बाद सुधार हुआ है। मोदी सरकार आर्थिक मोर्चे पर सफल हुई है और विपक्षियों के झूठे प्रचार की हवा निकल गयी। यूपीए के समय भारत की साख विश्व पटल पर घपलों और घोटालों से धूमिल हुई थी। 13 वर्षों बाद रेटिंग में सुधार हुआ है जिसका श्रेय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को जाता है। तीन वर्षो में विदेशी निवेशकों का भारत पर विश्वास बढा है। श्री चौहान ने कहा कि मुडीज के सर्वे में यह बताया गया है कि वित्त वर्ष 2018 में जीडीपी ग्रोथ 6.7 प्रतिशत और वित्त वर्ष 2019 में 7.5 प्रतिशत रहना संभव है। वित्त वर्ष 2020 के बाद ग्रोथ की रफ्तार में तेजी होगी। मुडीज के सर्वे ने देश के मुड और मिजाज को बताया है। भारत की ग्रोथ उभरते देशों में सबसे अधिक रहेगी। रेटिंग में सुधार से देश का व्यापार घाटा कम होगा और भारत में विदेशी निवेश बढ़ेगा। देश में रोजगार के नए अवसर बनेंगे। उन्होंने अमेरिकी थिंक टेंक एजेंसी पियू के सर्वे का हवाला देते हुए कहा कि तीन वर्षों में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता लगातार बढ़ी है। साथ ही जनता में सरकार की आर्थिक नीतियों और अर्थव्यवस्था को लेकर संतुष्टी दर्शायी गयी है।
प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत मध्यम आय समूह के लिए पात्र घरों के कारपेट एरिया में बढ़ोतरी मोदी सरकार की सराहनीय पहल : संजर
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व सांसद श्री आलोक संजर ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के अंतर्गत मध्यम आय समूह (एमआईजी) के लिए क्रेडिट लिंक सब्सिडी स्कीम (सीएलएसएस) के अंतर्गत ब्याज रियायत के लिए पात्र घरों के कारपेट एरिया में बढ़ोत्तरी की है जो मध्ययमवर्गी परिवारों के हितों की दृष्टि से सराहनीय कदम है। इस योजना के विस्तार, कवरेज और पहुंच बढ़ाने के लिए मंत्रिमंडल द्वारा अनेक निर्णय लिये गये। उन्होंने कहा कि सीएलएसएस की एमआइजी-1 श्रेणी में कारपेट एरिया को वर्तमान 90 स्क्वेयर मीटर से बढ़ा कर 120 स्कवेयर मीटर तक कर दिया है और सीएलएसएस की एमआइजी-2 श्रेणी के संबंध में कारपेट एरिया को वर्तमान 110 स्क्वेयर मीटर से बढ़ा कर 150 स्कवेयर मीटर तक कर दिया है। यह बदलाव 1 जनवरी, 2017 से लागू होंगे अर्थात जिस दिन एमआइजी के लिए सीएलएसएस लागू हुए थे। श्री संजर ने कहा कि एमआईजी के लिए सीएलएसएस शहरी आवासीय कमी की चुनौतियों को पूरा करने में अति सराहनीय कदम है। यह एक ब्याज रियायत स्कीम के लाभों को मध्यम आय समूह तक पहुंचाने का एक अग्रणी कदम सिद्ध होगा। श्री आलोक संजर ने कहा कि एमआईजी के लिए सीएलएसएस एमआइजी में दो आय समूहों अर्थात् 6,00,001 से लेकर रुपये 12 लाख (एम आई जी-1) और 12,00,001 से लेकर 18 लाख (एमआइजी -2) प्रति वर्ष को कवर करती है। एमआईजी-1 में 9 लाख रुपये तक ऋण पर 4 प्रतिशत की ब्याज रियायत प्रदान की जाती है जबकि एमआईजी-2 में 12 लाख रुपये के ऋण के लिए 3 प्रतिशत की ब्याज रियायत प्रदान की जाती है। ब्याज रियायत को 20 वर्षों की अधिकतम ऋण अवधि या वास्तविक अवधि, जो भी कम हो, के अतिरिक्त एनपीवी 9 प्रतिशत पर गणना की जाएगी। 9 लाख और 12 लाख रुपये से अधिक के आवसीय ऋण को गैर-रियायती दर पर किया जाएगा। सीएलएसएस के लिए एमआईजी वर्तमान में 31 मार्च, 2019 तक लागू है। उन्होंने कहा कि 120 स्के. मी. और 150 स्के. मी. को अच्छी वृद्धि के रूप में देखा जा रहा है और यह इस स्कीम में निर्धारित दो आय समूहों से संबंधित एमआइजी द्वारा सामान्य रूप से स्काउटिड बाजार की जरूरत को पूरा करेगा। कारपेट एरिया में बढ़ोतरी डेवेल्पर परियोजनाओं में व्यक्तियों की मध्यम आय श्रेणी के पास अधिक विकल्प प्रदान कराएगा। बढ़ा हुआ कारपेट एरिया किफायती आवसीय श्रेणी में तैयार फ्लैटों की बिक्री को प्रोत्साहन देगा। आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के अंतर्गत मध्यम आय समूह (सीएलएसएस) के लिए एमआईजी के लिए क्रेडिट लिंक सब्सिडी स्कीम को दिनांक 01.01.2017 से लागू कर रहा है। यह आवासीय ऋणों का लाभ गरीबों तक पहुंचाने और मध्यम आय समूह के लिए आवासीय ऋण के लिए नई ब्याज रियायत स्कीम की घोषणा माननीय प्रधानमंत्री जी के देश को दिनांक 31.12.2016 को संबोधन के अनुसरण में हुआ है।


aaअपनी संस्कृति को न भूलें नौजवान : गिरिराज सिंह


17 November 2017

भोपाल। गिरिराज सिंह ने कहा कि राष्ट्रवाद की की बात हो रही है, तो हम निश्चित रूप से ये वंदना करें। इसके साथ ही उन्होंने भारत माता की जय ... और वंदे मातरम् का उद्घोष किया। उन्होंने आयोजकों का धन्यवाद करते हुए कहा कि उन्होंने टेस्ट मैच को 20-20 में बदल दिया। उन्होंने कहा कि मुझे सबसे ज्यादा खुशी इस बात की है कि आज के कार्यक्रम में सबसे ज्यादा युवा पीढ़ी के लोग उपस्थित हैं। उन्होंने कहा कि हर राजनीतिक को सेल्यूलर जेल जाकर देखना चाहिए, पिछले साल में इंद्रेशजी के साथ एक कार्यक्रम में वहां गया था। मैं अभी तक नहीं भूल पाया कि वीर सावरकर छह फुट की काल कोठरी कितनी यातनाएं सही होंगी। इतिहासकारों ने वीर सावरकर को पीछे धकेल दिया और बड़े लोगों को इतिहासकाों में आगे करके दिखाया। सामाजिक संस्था 'सरोकारÓ की ओर से 'राष्ट्रवाद के संकल्प से नव-भारत की सिद्धीÓ विषय पर राजनीतिक एवं सामाजिक विषयों के मुखर वक्ता केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का संवाद कार्यक्रम रखा गया था। राजधानी के होटल पलाश में आयोजित इस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि श्री सिंह ने कहा कि आज राष्ट्रवाद पर चिंता को लोग विवादों में खड़ा कर देते हैं। राष्ट्रवाद की अनेक परिभाषाएं दी जा रही हैं। कभी जातीय राष्ट्रवाद, भाषाई राष्ट्रवाद और कभी राजनीतिक राष्ट्रवाद। आजादी के पहले द्वि राष्ट्रवाद की नींव पड़ चुकी थी। यदि मुस्लिम लीग की मांग ने गांधीजी के अखण्ड भारत की कल्पना चकनाचूर होकर रह गई थी। यदि नेहरू की जगह सरदार पटेलराष्ट्रवाद पर चर्चा करते हुए उन्होंने नौजवानों से कहा कि वे अपने संस्कृति को न भूलें, भौतिक चीजों का उपयोग करें लेकिन वह अपनी संस्कृति और सभ्यता को भी साथ में याद रखें। उन्होंने कहा कि राष्ट्रवाद राजनीति नहीं, जमीन का टुकड़ा नहीं, हमने चैतन्य शील बनाया है। उन्होंने देश की धर्म, संस्कृति को राष्ट्रवाद का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बताया। इसी कड़ी में श्री सिंह ने अश्वमेघ यज्ञ को चारों दिशाओं को जोडऩे वाला बताया। उन्होंने कहा चाणक्य का उदाहरण देते हुए कहा कि उनकी सोच ने न सिर्फ सिकंदर को वापस भेजा बल्कि छोटे-छोटे राज्यों को जोड़कर एक विशाल भारत का निर्माण भी किया। छत्रपति शिवाजी ने मुगलों को किस तरह से ...ये भी राष्ट्रवाद ही तो था। आजादी के बाद हमारे इतिहास को तोड़-मरोड़कर रख दिया गया। जिससे बच्चे इससे हटते जा रहे हैं। एक बच्चे ने मुझे कहा कि अंकल उम्र तो गुजर गई, लेकिन इसमें हमें क्यों धकेल रहे हो। उन्होंने कहा कि हमारी पहचान संस्कृति, संस्कार और धर्म से है। उन्होनें बताया कि एक बार हरिद्वार में बाबा रामदेव के यहां उन्हें अमेरिका में रहने वाले एक डाक्टर दम्पत्ति मिले। जिनके पास अकूत सम्पत्ति है और वह तकरीबन 35 सालों से वहां रह रहे हैं। लेकिन एक दिन एक पादरी ने उनहें इंडियन कहकर संबोधित किया। जिसके बाद उन्हें अहसास हुआ कि उनकी पहचान उनके देश और संस्कृति से है। उन्होंने बताया कि जेपी आंदोलन के दौरान बिहार के एक गांव में गए। दूसरे दिन लौट रहे थे कि उनका सीता काका के यहां रुकना हुआ। जब वह आने लगे तो काका ने कहा कि रुक जाओ मेरे बेटे कृष्ण मोहन का जन्म दिन है, जिस पर मैने कहा कि काका आपने कभी केक काटकर जन्मदिन मनाया है, तो उन्होंने कहा कि बच्चों का हवाला दिया। अपने पोते का नाम भी उन्होंने राजकपूर के के बेटे रणधीर कपूर के नाम पर डब्बू रखा। ये हीन भावना से ग्रसित हैं। पहले लोग मैया कहा करते थे आज मम्मी कहते हैं, आज संस्कृति का ह्रास हो रहा है, इससे राष्ष्ट्रप्रेम जुडा है। चाईना युद्ध का उदाहरण देते हुए उनहोंने कहा कि जब चाईना युद्ध के दौरान माताओं-बहनों ने अपने गहने उतारकर दे दिए थे। अपने स्वाभिमान की खातिर अमेरिका का लाल गेहूं खाने की बजाए एक दिन भूखा रहना स्वीकार किया था। आज वहीं भरोसा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी में देखने को मिल रहा है। उन्होंने करोड़ों गृहणियों को रसोई के धुएं से मुक्ति दिलाई है। उन्होंने कहा कि हम राष्ट्रवाद के सहारे खड़े हैं, हमारी पहचान वही है। उन्होंने केन्द्र सरकार द्वारा बेरोजगारों को दिए जा रहे रोजगार के बारे में भी बताया। दीनदयाल जी को याद किए बिना राष्ट्रवाद की कल्पना पूरी नहीं हो सकता। अंत्योदय की बात संकल्प से सिद्धी की ओर ले जाने की बात है। इनके पूर्व कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे आरएसएस के पदाधिकारी और समाजसेवी दीपक शर्मा ने उपस्थितजनों को सम्बोधित करते हुए कार्यक्रम के विषय की गंभीरता को रेखांकित किया। उन्होंने ढ़ाई हजार साल के इतिहास से राष्ट्रवाद का उदाहरण प्रस्तुत किया। उन्होंने छठवीं सदी से लेकर 19 वीं सदी तक के राष्ट्रवाद के उदाहरण अपने उद्बोधन में दिए। इसके पहले कार्यक्रम के आयोजक, सरोकार संस्था के अध्यक्ष, भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता और भाजयुमो के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल कोठारी ने कहा कि आज सरोकार द्वारा आयोजित संवाद में उपस्थित हम सबके मार्गदर्शक हैं दीपक शर्मा जी इस कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे हैं। वहीं उन्होंने केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के बारे में कहा कि कहावत है कि जो गरजते हैं वो बरसते नहीं लेकिन गिरिराजजी न सिर्फ गरजते हैं, बल्कि उनके शब्द बाणों की तरह बरसते भी हैं। जब वह बोलते हैं तो उनके विरोधी पानी के लिए भी तरसते हैं। इस अवसर पर बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता, समाजसेवी तथा मीडियाकर्मी उपस्थित थे


aaएमएसएमई उद्योगों को निवेश पर मिलेगा 40 प्रतिशत अनुदान - मुख्यमंत्री श्री चौहान


17 November 2017

प्रदेश में एमएसएमई उद्योगों को संयंत्र एवं मशीनरी में किये गये निवेश पर पांच समान वार्षिक किश्तों पर 40 प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा। एमएसएमई इकाईयों को प्रत्येक कर्मचारी के लिये अधिकतम एक हजार रूपये नियोक्ता के अंश के रूप में सीपीएफ में जमा करने के लिए कम से कम दस नियमित कर्मचारियों के लिए पांच वर्षों तक पांच लाख रूपये दिये जायेंगे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहां दो दिवसीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम एवं स्व-रोजगार सम्मेलन का शुभारम्भ सत्र में इस आशय की घोषणाएं की।
अन्य प्रदेश भी अपना रहे मध्यप्रदेश के नवाचार
केंद्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम राज्य मंत्री श्री गिरिराज सिंह सम्मेलन के मुख्य अतिथि थे। श्री गिरिराज सिंह ने युवा उद्यमियों को संबोधित करते हुये कहा कि मध्यपदेश के नवाचारों से अन्य प्रदेश भी सीख ले रहे हैं। उन्होने कहा कि मध्य्रपदेश ने कृषि के क्षेत्र में अनोखा कीर्तिमान स्थापित किया है। कृषि में लगातार पांच सालों से बीस प्रतिशत की वृद्धि दर बनाये रखना बड़ी सफलता है। उन्होंने मुख्यमंत्री को किसानों की संतानों के लिये और फसलों के मूल्य संवर्धन को बढ़ावा देने के लिये मुख्यमंत्री कृषि युवा उद्यमी योजना बनाने की पहल की भी सराहना की। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना की भी देश में सहराहना हो रही है।
कृषि क्रांति के बाद आर्थिक क्रांति की ओर बढ़ रहा मध्यप्रदेश
केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि देश को मध्यप्रदेश पर गर्व है। प्रदेश कृषि क्रांति की शुरूआत करने के बाद अब आर्थिक क्रांति की ओर बढ़ रहा है। केन्द्र सरकार मध्यप्रदेश की विकास गति को बढ़ाने के लिये हर संभव मदद करेगी। श्री सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने देश के इतिहास में पहली बार युवाओं को कौशल सम्पन्न बनाने की दिशा में काम किया है। उन्होंने कहा कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योंगों में कम पूंजी में ज्यादा रोजगार पैदा होता है। केन्द्र सरकार के प्रयासों से प्रतिवर्ष दस करोड़ लोगों को रोजगार मिला है। उन्होंने बताया कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमियों की भुगतान संबंधी और अन्य बाधाओं को दूर करने के लिये 'एमएसएमई समाधान' व्यवस्था की गई है। अब उनके श्रम और समय की बचत होगी और इससे आसानी से समस्याओं का समाधान मिल जायेगा। उन्होंने कहा कि जीएसटी के संबंध में अब समझ बढ रही है। जल्दी ही सकारात्मक प्रभाव दिखने लगेगा।
विभागीय मंत्री को दी बधाई
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के उद्यमी युवाओं के साथ मिलकर प्रदेश में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों का जाल बिछायेंगे। इससे ज्यादा से ज्यादा रोजगार के अवसर पैदा होंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश ने कृषि के क्षेत्र में अभूतपूर्व कीर्तिमान स्थापित करते हुए सर्वाधिक 20 प्रतिशत वार्षिक विकास दर हासिल की है। केवल खेती के माध्यम से बढ़ती जनसंख्या की जरूरतें पूरी नहीं हो सकती। बडी संख्या में लघु और कुटीर उद्योगों का विकास करना जरूरी है ताकि ज्यादा से ज्यादा रोजगार पैदा हों। उन्होंने कहा कि बहुत कम समय में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विभाग ने शानदार काम किया है। इसके लिये उन्होंने विभागीय मंत्री एवं प्रशासकीय अमले को बधाई दी।
हर साल होगा सम्मेलन
मुख्यमंत्री ने कहा कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों के सम्मेलन हर साल आयोजित होंगे ताकि सरकार और उद्योगों के बीच संवाद बना रहे। उन्होंने मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना, युवा उद्यमी योजना और मुख्यमंत्री कृषि युवा उद्यमी योजना की चर्चा करते हुए कहा कि युवा उद्यमियों को पांच साल तक लोन की राशि पर पांच प्रतिशत ब्याज अनुदान दिया जायेगा। बेटियों के लिये छह प्रतिशत ब्याज अनुदान होगा। उन्होंने कहा कि साढ़े सात लाख युवाओं को लोन की सहायता देकर उन्हें उद्यमी बनाया जायेगा। उन्होंने युवा उद्यमियों का आव्हान किया कि वे अपने नवाचारी विचारों को साकार कर आगे बढें। सरकार वेंचर केपिटल फंड के माध्यम से उनकी मदद करेगी। उन्होंने कहा कि सरकार सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों और उद्यमियों को प्रदेश के विकास में सहयोगी मानती है। उन्हें हर कदम पर पूरा सहयोग दिया जायेगा।
जीएसटी के बाद लागू हुई नई नीति
सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम राज्य मंत्री श्री संजय सत्येन्द्र पाठक ने कहा कि जीएसटी लागू होने के बाद नये संदर्भों में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों को बढ़ावा देने के लिये नई नीति लागू की गई है। प्रदेश के पांच लाख युवाओं को स्व-रोजगार से जोड़ा गया है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश देश का एक मात्र ऐसा राज्य है जहां युवाओं में उद्यमशीलता को प्रोत्साहित करने के लिये नवाचारी और क्रांतिकारी योजनाएं बनाई गई हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में तीन सौ से ज्यादा क्लस्टर हैं। उन्होंने इन क्लस्टरों में अधोसंरचनात्मक विकास के लिये केन्द्र से सहयोग का आग्रह किया। सचिव सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम भारत सरकार श्री अरुण कुमार पांडा ने केन्द्र की योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मुद्रा योजना में ज्यादा से ज्यादा उद्यमियों को लाभ देने के लिये ढाई हजार करोड़ का कारपस फंड कई गुना बढा दिया गया है। प्रमुख सचिव एम.एस.एम.ई. श्री वी एल कान्ता राव ने बताया कि साढ़े चार लाख इकाईयां पंजीकृत हो चुकी है जिनमे माध्यम से 14 लाख लोगों को रोज़गार मिला है। उन्होने बताया कि 13 विभाग एमएसएमई विभाग से से मिलकर कार्य कर रहे है। इस साल दो लाख इकाईयो का पंजीयन किया जायेगा। उन्होंने बताया कि 22 इन्क्यूबेशन केंद्र और 100 स्टार्ट अप उद्यम शुरू किये गए है।
मुख्यमंत्री की प्रमुख घोषणाएं-
एमएसएमई ईकाई के उत्पाद की गुणवत्ता प्रमाणित करने और पेटेंट पंजीकरण के लिए व्यय की प्रतिपूर्ति राज्य शासन द्वारा की जाएगी। प्रदेश के ऐसे पॉवरलूमों, जिनको रियायती दर पर विद्युत उपलब्ध कराई जा रही है, उनकी पात्रता सीमा 25 हार्सपॉवर से बढाकर 150 हार्सपॉवर की गई है। पॉवरलूमों के उन्नयन का काम तेजी से बढाने के लिए भारत सरकार से प्राप्त वित्तीय सहायता के अतिरिक्त अधिकतम 8 पॉवरलूमों के लिए उनके उन्नयन लागत का 25 प्रतिशत राज्य शासन द्वारा प्रदान किया जाएगा। निजी औद्योगिक क्षेत्र तथा निजी बहुमंजिला औद्योगिक परिसरों के विकास को प्रोत्साहित करने के लिए 2 करोड रूपये तक की सहायता उपलब्ध कराई जाएगी। मध्यम श्रेणी के उद्यमों को अविकसित शासकीय भूमि आवंटित करने के लिए नियमों में प्रावधान किया जाएगा। मध्य प्रदेश राज्य क्लस्टर विकास कार्यक्रम चलाया जाएगा। एमएसएमई इकाईयों में कार्यरत अकुशल एवं अर्द्धकुशल कर्मचारियों के लिये एक विशेष कौशल संवर्द्धन कार्यक्रम प्रारंभ किया जाएगा। इस वर्ष 7.5 लाख युवाओं को स्वरोज़गार के साथ जोड़ा जाएगा। अनुसूचित जाति/जनजाति उद्यमियों के लिये एक विशेष सम्मेलन अगले महीने में आयोजित किया जाएगा। एमएसएमई विभाग के अधीन औद्योगिक क्षेत्रों में भवन निर्माण अनुमति के लिये भवन संबंधी थर्ड पार्टी सर्टीफिकेशन को स्वीकार किया जायेगा। शहरों के मास्टर प्लान एवं औद्योगिक भू आवंटन हेतु निर्धारित एफएआर की विसंगतियों को दूर करने के लिये नियमों में संशोधन किया जाएगा। इंदौर के पालदा निजी औद्योगिक क्षेत्र को विकसित करने के लिए शासन द्वारा अधोसंरचना विकास में मदद की जाएगी। अब प्रत्येक जिले में लघु उद्योग संवर्द्धन बोर्ड भी स्थापित किया जाएगा। राज्य स्तरीय लघु उद्योग संवर्द्धन बोर्ड में 5 प्रमुख विभागों को स्थायी सदस्यता दी जाएगी। बीमार लघु उद्योगों की पहचान कर उनके पुनर्जीवन हेतु बैंकों के साथ समन्वय कर एक सकल पुनर्जीवन पैकेज तैयार किया जाएगा। एमएसएमई हेतु नवीन भू-आवंटन और भू-प्रबंधन नियम बनाये जायेंगे। सूक्ष्म इकाईयों की स्थापना के लिए वित्तीय संस्थाओं से अधिकतम 25 लाख रुपये का ऋण प्राप्त करने पर उनसे पंजीयन के लिए अधिकतम 500 रुपये की स्टाम्प ड्यूटी ली जाएगी। एमएसएमई द्वारा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को प्रस्तुत किये जाने वाले प्रपत्रों का सरलीकरण किया जाएगा। एमएसएमई इकाईयों को बढ़ावा देने के लिये अनेक एमएसएमई उद्योगों को सफेद कैटेगरी में लाया जाएगा। उज्जैन में स्मार्ट सिटी के अधीन उद्योग एक्जीबिशन सेन्टर की स्थापना की जाएगी। प्रदेश की सभी स्मार्ट सिटीज में इनक्यूबेशन सेन्टरों की स्थापना की जाएगी। निजी औद्योगिक क्षेत्रों के निर्माण की अनुमति के लिए संबंधित नगरीय निकायों और ग्रामीण निकायों को अधिकृत किया जाएगा। इंदौर के पालदा निजी औद्योगिक क्षेत्र में कृषि आधारित इकाइयों के अलावा अन्य उद्योगों के लिये भी अनुमति दी जाएगी। प्लग एण्ड प्ले सुविधा निर्मित करने के उद्देश्य से निजी रो (row )फैक्ट्री के निर्माण की अनुमति दी जाएगी। औद्योगिक इकाइयों पर लगने वाले कर्मकार कल्याण सेस के लिये डीआईसी या ए.के.व्ही.एन. के द्वारा दिये जाने वाले पूंजी अनुमान मान्य किये जायेंगे। नवीन एमएसएमई औद्योगिक क्षेत्रों में विद्युत अधोसंरचना के विकास को उर्जा विभाग द्वारा उनके प्लान में यथासंभव सम्मिलित किया जाएगा।
प्रदर्शनी का शुभारंभ
श्री गिरिराज सिंह और मुख्यमंत्री ने लघु उदयमियों की प्रदर्शनी का शुभारंभ किया। इसमें लगभग 300 इकाईयों ने अपनी प्रदर्शनी लगाई है। मुख्यमंत्री ने नवीन एमएसएमई विकास नीति, मुख्यमंत्री कृषक युवा उद्यमी योजना और एमएसएमई श्रमिको का कौशल उन्नयन पुस्तिकाओं का विमोचन किया। उन्होंने ऑनलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारम्भ भी किया। इससे उद्यमियों को हमेशा याद रखने योग्य जरूरी जानकारी उपलब्ध होगी। स्वरोजगार योजनाओं के एकीकृत ऑनलाइन प्रक्रिया का भी शुभारम्भ किया गया। इस अवसर पर राज्य सरकार की ओर से श्री वी. एल. कांताराव और गवर्नमेंट ई मार्केट की ओर से इसके अतिरिक्त कार्यपालन अधिकारी एस. सुरेश कुमार ने एमओयू पर हस्ताक्षर किये। बैतूल उद्योग संघ और शासन के बीच भी एमओयू पर हस्ताक्षर हुए।
उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिये सम्मान
इस अवसर पर सूक्ष्म, लघु और मध्यम के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिये एमएसएमई अवार्ड 2016-17 प्रदान किये गये। मेसर्स गणेश आइल मिल ग्वालियर को 51 हजार की राशि का पहला पुरस्कार, मेसर्स ओरिएंट कागज कनवर्टर मंडीदीप को 31 हजार का दूसरा और मेसर्स वत्सल शिल्प देवास को 21 हजार रूपये का तीसरा पुरस्कार‍दिया गया। इसी प्रकार स्टैंड अप योजना में अच्छे प्रदर्शन के लिये टीकमगढ़ जिला व्यापार उद्योग केन्द्र, और बुरहानपुर जिला व्यापार उद्योग केन्द्र को सम्मानित किया गया। मुद्रा योजना में श्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए इंदौर को और एमएसएमई इकाईयो के पंजीयन और स्थापना में सहयोग देने में श्रेष्ठ प्रदर्शन के लिये ज़िला उद्योग केंद्र धार को पुरस्कृत किया गया। नवाचारी स्टार्ट अप के लिये कबाड़ीवाला डॉट कॉम भोपाल को सम्मानित करते हुए शासन की ओर से लैटर ऑफ़ इंटेंट दिया गया। इस अवसर पर म.प्र. चेंबर ऑफ़ कॉमर्स के श्री आर. एस. गोस्वामी ने अपने विचार साझा करते हुए कहा कि 1945 से लाइसेंस प्रणाली के खिलाफ चल रहा संघर्ष समाप्त हो गया। अब रिन्युअल शब्द ही हटा दिया गया है। इसके लिये उन्होंने प्रधानमंत्री श्री मोदी को धन्यवाद दिया। महाकौशल क्षेत्र के उद्योगपति श्री रवि गुप्ता ने कहा कि शासन की नीतियों से जाहिर हो गया है कि कृषि के बाद अब उद्योग के क्षेत्र में भी प्रदेश नए कीर्तिमान स्थापित करेगा। उन्होंने कृषि आधारित उद्योंगो के लिए अलग योजना बनाने की जरूरत बताई। उन्होंने कहा कि जीएसटी का फायदा मध्यप्रदेश को मिलेगा। लघु उद्योग भारती के श्री जितेन्द्र गुप्ता ने लघु उद्यमियों की समस्याओ की चर्चा की। मध्य प्रदेश लघु उद्योग निगम अध्यक्ष, श्री बाबूलाल रघुवंशी, रोजगार संवर्धन बोर्ड के अध्यक्ष श्री हेमंत देशमुख मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, प्रमुख सचिव उद्योग मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन श्री मलय श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री अशोक बर्णवाल, प्रमुख सचिव श्री एस.के. मिश्रा, उद्योगों और औदयोगिक संस्थाओं के प्रतिनिधि और बडी संख्या में लघु उदयमी उपस्थित थे।


aa"निरामय - 2017" अंतर्राष्ट्रीय सेमीनार में राजस्व मंत्री श्री गुप्ता


17 November 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा है कि भारत में आयुर्वेदिक औषधियों का प्रचुर भंडार है। शरीर और मन को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है कि आयुर्वेद से जुड़ें। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद के प्रति लोगों का रूझान बढ़ा है। इस सम्मान को बनाये रखने के लिए जरूरी है कि चिकित्सक बेहतर इलाज सुनिश्चित करें। राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने यह बात रानी दुल्लैया स्मृति आयुर्वेद पी.जी. महाविद्यालय एवं चिकित्सालय भोपाल में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय सेमीनार 'निरामय-2017' में कही। राजस्व मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सुझाव पर विश्व योग दिवस मनाने का निर्णय लिया गया है। प्रति वर्ष 193 देशों में विश्व योग दिवस मनाया जाता है। उन्होंने इस अवसर पर महाविद्यालय की स्मारिका का भी विमोचन किया। कार्यक्रम में महाविद्यालय के संचालक डॉ. हेमन्त चौहान ने बताया कि सेमीनार में रूस, साइप्रस सहित अनेक देशों के प्रतिनिधि शामिल हो रहे हैं। यह सेमीनार दो दिन चलेगा।


aaराज्य भू-वैज्ञानिक कार्यक्रम मण्डल की 51वीं बैठक सम्पन्न


16 November 2017

मध्यप्रदेश में पाये जाने वाले विभिन्न खनिजों के सर्वेक्षण एवं पूर्वेक्षण कार्य के लिए सचिव खनिज साधन श्री मनोहर दुबे की अध्यक्षता में राज्य भू-वैज्ञानिक कार्यक्रम मंडल की 51वीं बैठक हुई। सचिव श्री दुबे ने संस्थानों के प्रतिनिधियों से अपेक्षा की कि वे वर्तमान परिवेष तथा खनिज क्षेत्र में आ रही आवश्यकता अनुरूप खनिज भंडारों का आकलन कर प्रमाणीकरण करें, जिससे भारत सरकार की मंशानुरूप खनिज क्षे़त्रों को नीलाम किया जा सके। बैठक में वर्ष 2016-17 में किये गये खनिज अन्वेषण के कार्य एवं वर्ष 2017-18 में विभाग द्वारा किये जाने वाले भौमिकी कार्यों पर विचार किया गया। संचालक, भौमिकी तथा खनिकर्म श्री विनीत कुमार अस्टिन ने बताया की वित्तीय वर्ष 2017-18 में विभाग द्वारा सतना,रीवा,धार,झाबुआ-अलीराजपुर एवं श्योपुर-मुरैना जिले में चूना पत्थर तथा डिण्डोरी में बाक्साइट खनिज का पूर्वेक्षण कार्य किया जायेगा। वित्तीय वर्ष 2016-17 में सतना, धार तथा रीवा जिले में चूना-पत्थर के लिए एवं डिण्डोरी जिले में बाक्साइट खनिज के लिए पूर्वेक्षण कार्य किया गया है। जिला छतरपुर में हीरा तथा दमोह और सतना में चूना-पत्थर के 2-2 ब्लाक तथा रीवा और बालाघाट में बाक्साइट, जबलपुर में आयरन ओर का तथा बैतूल में ग्रेफाइट के एक-एक ब्लॉक नीलामी के लिए तैयार किये गए हैं। इसकी कुल रिसोर्स वैल्यू (संसाधन मूल्य) 65 हजार करोड़ रूपये से अधिक है। बैठक में उप सचिव खनिज साधन श्री राकेश श्रीवास्तव, भारत सरकार की विभिन्न संस्थाओं, भारतीय भू-वैज्ञानिक सर्वेक्षण विभाग, भारतीय खान ब्यूरो, खनिज अन्वेषण निगम, सी.एम.पी.डी.आई. बिलासपुर, राष्ट्रीय खनिज निगम हैदराबाद, राज्य खनिज निगम भोपाल, मध्यप्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद एवं भौमिकी तथा खनिकर्म के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।


aaराज्य ग्रामीण आजीविका मिशन का 43 जिलों के 271 विकासखण्डों में क्रियान्वयन


16 November 2017

मध्यप्रदेश के ग्रामीण अंचलों में गरीब परिवारों की महिलाओं को आर्थिक और सामाजिक रूप से सशक्त बनाने के लिए 43 जिलों के 271 विकासखण्डों में राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन को सघन रूप से क्रियान्वित किया जा रहा है। प्रदेश में यह मिशन वर्ष 2012 से प्रारंभ किया गया। वर्ष 2016-17 में 33 जिलों के 195 विकासखण्डों में मिशन का क्रियान्वयन सुनिश्चित किया गया। शेष 118 विकासखण्डों में गैर-सघन रूप से जिला पंचायतों के माध्यम से मिशन का क्रियान्वयन किया जा रहा है। इस वर्ष 2017-18 में 10 नए जिलों के 76 विकासखण्डों में मिशन का सघन क्रियान्वयन आरंभ किया गया है। राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत आरंभ से लेकर सितम्बर-2017 तक कुल एक लाख 83 हजार 407 स्व-सहायता समूहों को 688.54 करोड़ रुपये की राशि परिक्रामी निधि (रिवाल्विंग फण्ड) और सामुदायिक निवेश निधि (सीआईएफ) स्वरूप प्रदाय की गई है। राज्य में एक लाख 42 हजार 294 समूहों का बैंक लिंकेज कर एक हजार 754 करोड़ रुपये का ऋण भी दिलाया गया है। मिशन के अंतर्गत 22.12 लाख परिवारों को संगठित कर एक लाख 93 हजार 107 स्व-सहायता समूहों से जोड़ा गया है। प्रदेश में 16 हजार 75 ग्राम संगठन बनाए गये हैं, जिनमें एक लाख 14 हजार 528 स्व-सहायता समूहों की सदस्यता है। संकुल आधारित 335 संगठन (सीएलएफ) बनाए गये हैं। कम्यूनिटी मोबिलाइजेशन को बढ़ावा देने के लिए 22 हजार 689 समुदाय स्रोत व्यक्तियों का चिन्हांकन और प्रशिक्षण किया गया है। प्रदेश में एवं प्रदेश के बाहर सेवाएँ देने के लिए 5016 कृषि सीआरपी प्रशिक्षित की गई हैं। ग्रामीण अंचलों के 14 लाख 39 हजार 480 परिवारों को आजीविका गतिविधियों से जोड़ा गया है। राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत प्रदेश में जनपद स्तरीय रोजगार मेले और सभी जिलों में रोजगारोन्मुखी प्रशिक्षण आयोजित किये गए। मेलों और प्रशिक्षण के माध्यम से 6 लाख 19 हजार युवाओं को रोजगार के अवसर भी उपलब्ध कराये गये। आज की स्थिति में आजीविका गतिविधियों से जुड़े सदस्यों में से एक लाख 34 हजार से अधिक समूह सदस्य एक लाख रुपये से अधिक की आय अर्जित करने लगे हैं। इस मिशन अंतर्गत 3 सर्वश्रेष्ठ समूह एवं एक ग्राम संगठन को उत्कृष्ट कार्य के लिए ग्रामीण विकास मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा सम्मानित किया गया है। भारत सरकार द्वारा एक लाख रुपये की राशि प्रति समूह एवं 2 लाख रुपये की राशि ग्राम संगठन को दी गई है। वर्ष 2016 एवं 2017 में भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय के कॉमन रिव्यू मिशन ने प्रदेश में आजीविका मिशन के कार्यों की निरंतर सराहना की है। राष्ट्रीय आरसेटी दिवस के अवसर पर भारत सरकार द्वारा स्व-रोजगार के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए दीनदयाल अन्त्योदय योजना-राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन को 7 जून, 2017 को पुरस्कृत किया गया है। दिनांक 19 जून, 2017 को आजीविका गतिविधियों के संचालन के लिए अन्य प्रदेशों की तुलना में बेहतर कार्य के लिए मध्यप्रदेश को राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत किया गया।


aaभोपाल न्यायालय परिसर स्वच्छता में अग्रणी


15 November 2017

भोपाल न्यायालय परिसर स्वच्छता में अग्रणी है। परिसर की प्रतिदिन मैकनाइज्ड पद्धति से साफ-सफाई का कार्य होता है। यहाँ पर आने वाले अन्य न्यायाधीश परिसर की स्वच्छता एवं सुंदरता देखकर प्रसन्न हो जाते हैं। यह अनुभव हाल में उस समय हुआ जब बांग्लादेश के न्यायाधीशगण परिसर में आये। उन्होंने कान्फ्रेंस हाल में भोपाल के न्यायाधीशों के साथ विचारों का आदान-प्रदान किया। बांग्लादेशी न्यायाधीशों ने कम्प्यूटर अनुभाग, फाइलिंग काउंटर, लायब्रेरी अनुभाग, मालखाना नजारत को देखा एवं अलग-अलग न्यायाधीश कक्षों में बैठकर वहाँ हो रही सुनवाई को ध्यान से सुना। वर्तमान में न्यायालय परिसर में 12 लाख रूपए की लागत से बाथरूमों का पुनर्निर्माण पूरी गति से चल रहा है। दिसंबर तक नए पारूप में बाथरूम उपलब्ध हो जायेंगे। भोपाल न्यायालय परिसर में रिकार्ड रूम, मालखाना, प्रतिलिपि, अन्य समस्त अनुभागों एवं न्यायालय कक्षों में अग्निशमन यंत्र फरवरी 2018 तक उपयोग की क्षमता रखते हैं। केन्टीन का ठेका भी नई संस्था को दे दिया गया है। भोपाल न्यायालय परिसर में स्वच्छता अभियान व्यापक स्तर पर चलाया गया। अभियान में सभी न्यायाधीश, अधिवक्ता, कर्मचारी एवं महापौर भोपाल ने भी श्रमदान किया।


aaकेन्द्रीय सूखा राहत दल ने विदिशा एवं टीकमगढ़ जिले का किया भ्रमण


15 November 2017

केन्द्रीय सूखा राहत दल ने आज विदिशा एवं टीकमगढ़ जिले के सूखाग्रस्त ग्रामों का भ्रमण कर अल्प-वर्षा से उत्पन्न सूखे की स्थिति का जायजा लिया। प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरुण पाण्डे केन्द्रीय दल के साथ थे। केन्द्रीय सूखा राहत दल विदिशा जिले की लटेरी तहसील के सूखा प्रभावित ग्राम अगरापठार और तिलोनी पहुँचा। दल के सदस्यों ने इन ग्रामों में फसलों और पेयजल की स्थिति का जायजा लिया। कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने दल को जिले में सूखे की स्थिति की विस्तृत जानकारी दी। ग्रामीणों ने दल के सदस्यों को बताया कि सोयाबीन और उड़द की फसल अल्प-वर्षा के कारण पूर्णत: खराब हो गई है और काटने लायक भी नहीं बची है। बारिश नहीं होने के कारण ग्रामीण क्षेत्र में पेयजल की समस्या उत्पन्न हो गई है। कुएँ, हैण्ड-पम्प और अन्य जल-स्रोत सूख गये हैं। ग्रामीणों के समक्ष जीविकोपार्जन की समस्या खड़ी हो गई है। ग्रामीणों ने दल को बताया कि पशुओं के लिए चारा और पानी की बहुत बड़ी समस्या उत्पन्न हो गई है। टीकमगढ़ जिले के सूखाग्रस्त ग्रामों के भ्रमण के पश्चात् केन्द्रीय दल को कलेक्टर श्री अभिजीत अग्रवाल ने पॉवर प्वाइंट प्रजेन्टेशन के माध्यम से जिले में अल्प-वर्षा, पेयजल, भू-जल, खरीफ, रबी और उपलब्ध खाद्यान्न एवं भूसे की स्थित की जानकारी दी। केन्द्रीय दल ने ग्राम नैगुवां, मड़िया और अन्य ग्रामों में खेत, कुएँ एवं तालाब देखे तथा वहाँ उपस्थित किसानों से चर्चा की। इस दौरान स्थानीय लोगों ने केन्द्रीय दल से रोजगार उपलब्ध कराने तथा पीने के पानी की वैकल्पिक व्यवस्था कराने की मांग की। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष श्री पर्वतलाल अहिरवार, विधायक श्री के.के. श्रीवास्तव, श्री अनिल जैन, श्रीमती अनीता नायक, जिला योजना समिति सदस्य श्री अभय प्रताप सिंह यादव, ओरछा विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री सुरेन्द्र सिंह राठौर एवं जन-प्रतिनिधि सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।


aaरीवा में पेयजल आपूर्ति के लिए 102 करोड़ रूपये खर्च


15 November 2017

उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने रीवा में शहर के अनंतपुर और अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय परिसर में मीठे और शुद्ध पेयजल की आपूर्ति के लिये बनी टंकियों का लोकार्पण किया। उन्होंने कहा कि नगरवासियों को आसानी से शुद्ध तथा मीठा पेयजल उपलब्ध कराने के लिये अब तक 102 करोड़ रूपये की राशि खर्च की जा चुकी है। उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने रीवा में बन रहे राजकपूर आडिटोरियम के निर्माण कार्य का निरीक्षण किया। उन्होंने बोदा-करहिया को जोड़ने वाले ब्रिज का अवलोकन भी किया। उद्योग मंत्री श्री शुक्ल ने शहरी एवं ग्रामीण प्रधानमंत्री आवास योजना की अद्यतन स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि हितग्राहियों को उनके मकान समय पर उपलब्ध करायें


aaकेंद्रीय मंत्री श्री गिरिराज सिंह 16 नवम्बर को भोपाल में


14 November 2017

भोपाल । राजनैतिक एवं सामाजिक विषयों के मुखर वक्ता, केंद्रीय सूक्ष्म,लघु और मध्यम उद्धम मंत्री श्री गिरिराज सिंह 16 नवम्बर को भोपाल में सरोकार समिति द्वारा आयोजित “राष्ट्रवाद के संकल्प से नव भारत की सिद्धि” कार्यक्रम में अपना व्याख्यान देंगे। सरोकार संस्था के अध्यक्ष एवं भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता श्री राहुल कोठारी ने बताया कि आज भारत जैसे राष्ट्र में नव निर्माण की जो नींव पड़ी है, उसमें अनेकानेक आंतरिक और गंभीर चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। भारत के गौरवशाली नेतृत्व के सामर्थ्य ने राष्ट्र सेवा के संकल्प को सिद्ध करने का जो द्वार खोला है उसमें सामाजिक चेतना और जाग्रति से ही भारतवर्ष को विभीषिका से बचाया जा सकता है। इन्हीं प्रयासों के तहत “राष्ट्रवाद के संकल्प से नव भारत की सिद्धि” कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। . यह कार्यक्रम 16 नवम्बर को होटल पलाश, भोपाल में दोपहर ठीक 3.30 बजे प्रारंभ होगा। इस अवसर पर विशेष रूप से अनेक चिन्तक, विचारक एवं अन्य अतिथिगण उपस्थित रहेंगे। उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व भी सामाजिक संस्था सरोकार कई महत्वपूर्ण कार्यक्रमों के आयोजन कर चुकी है। इन कार्यक्रमों में युवा उपन्यासकार चेतन भगत, भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. संबित पात्रा, प्रसिद्ध अभिनेता मनोज जोशी, सांसद अनुराग ठाकुर को आमंत्रित किया जा चुका है। समिति द्वारा हाल ही में सर्वाधिक ज्वलंत विषय ब्लू व्हेल पर भी कार्यशाला का आयोजन किया गया था। आप सादर आमंत्रित है ।


aaसभी जिलों और तहसीलों में समाधान-एक दिन व्यवस्था लागू होगी


14 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ मंत्रालय में समाधान ऑन लाइन के तहत वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से आवेदकों के प्रकरणों का निराकरण करते हुये लापरवाही पाये जाने पर लोक निर्माण विभाग के मुख्य अभियंता के निलंबन सहित अन्य अधिकारियों-कर्मचारियों के विरूद्ध कार्रवाई करने के निर्देश दिये। इस दौरान मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि सभी जिलों और तहसील मुख्यालयों में समाधान-एक दिन व्यवस्था आगामी 15 दिसम्बर से शुरू की जाये। इसमें ऐसी सेवायें शामिल की जायेंगी़, जिनमें अभिलेख सत्यापन की आवश्यकता नहीं होती हो। ये सेवायें लोक सेवा केन्द्र से आवेदन के दिन ही प्रदाय की जायेंगी। अनुसूचित जाति-जनजाति के विद्यार्थियों को डिप्लोमा पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने पर आवास भत्ता योजना का लाभ दिया जाये। लोक सेवा केन्द्र में राजस्व की सेवाओं के‍लिये स्टाम्प शुल्क लेने की व्यवस्था को समाप्त किया जाये। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह सहित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित थे। राजगढ़ जिले के ग्राम कनडरा कोटरी के श्री जगन्नाथ प्रजापति के आवेदन जिसमें लोक निर्माण विभाग द्वारा बोड़ा से बरखेड़ा मार्ग निर्माण के लिये भूमि अधिग्रहण का मुआवजा नहीं मिला था, पर लोक निर्माण विभाग द्वारा बताया गया कि आवेदक की मुआवजा राशि त्रुटिवश किसी अन्य खाते में जमा हो गयी थी। इस प्रकरण में विलम्ब के लिये जिम्मेदार कर्मचारी को निलंबित कर दिया गया है तथा तीन अधिकारियों-कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस दिया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि सी.एम.हेल्प लाइन के इस प्रकरण को फोर्स्ड क्लोस्ड करने वाले विभाग के मुख्य अभियंता को निलंबित किया जाये। ग्वालियर जिले के डबरा की सुश्री हेमलता शाक्य ने बताया कि उन्होंने नर्सिंग कॉलेज में अध्ययन किया है परन्तु उन्हें आवास भत्ते की राशि नहीं मिली है। संबंधित विभाग द्वारा बताया गया है कि छात्रा डिप्लोमा पाठयक्रम में अध्ययनरत है। इसलिये नियमों के तहत उन्हें आवास भत्ते की पात्रता नहीं है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि नियमों में परिवर्तन किया जाये तथा डिप्लोमा पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेने वाले अनुसूचित जाति-जनजाति के विद्यार्थियों को भी योजना का लाभ दिया जाये। भोपाल के श्री अनिश कुरैशी के हमीदिया चिकित्सालय में नि:शुल्क दवाई नहीं मिलने के आवेदन की मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जाँच कराने के निर्देश‍दिये। साथ ही हमीदिया चिकित्सालय में नि:शुल्क दवाई वितरण व्यवस्था की आकस्मिक जाँच करने के निर्देश दिये। आगर मालवा जिले के ग्राम गुराड़िया के दिव्यांग युवा श्री बलराम पुत्र श्री अमर सिंह के स्वरोजगार योजना में ऋण स्वीकृत नहीं करने तथा बाद में कम ऋण स्वीकृत करने के आवेदन पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस संबंध में संबंधित बैंक के वरिष्ठ अधिकारी को पत्र लिखकर कार्रवाई कराने के निर्देश दिये। इंदौर जिले की श्रीमती आशा सैनी को पति के निधन के बाद लोकतंत्र सेनानी की सम्मान निधि नहीं मिलने के आवेदन पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि आवेदन को दो वर्ष तक लंबित रखने के लिये एजीएमपी, ग्वालियर को जाँच के लिये निर्देश दिये। इंदौर जिले के श्री दीपू मौर्य को आईटीआई से प्रशिक्षण प्राप्त करने बाद भी प्रमाण पत्र नहीं होने के आवेदन पर मुख्यमंत्री ने संबंधित आईटीआई के प्राचार्य की विभागीय जाँच करने तथा इस तरह के सभी प्रकरणों की जाँच के निर्देश दिये। कटनी जिले से ग्राम ढ़ीमरखेड़ा के श्री शैलेन्द्र सिंह और श्री प्रदीप विश्वकर्मा द्वारा कौशल विकास केन्द्र उमरिया पान में प्रशिक्षण की व्यवस्था नहीं होने से परीक्षा परिणाम में विलम्ब के आवेदन पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संबंधित असेसिंग संस्था को ब्लेक लिस्ट करने के निर्देश दिये। भिण्ड जिले के ग्राम बुजुर्ग मौता के श्री कमलेश जाटव द्वारा पटटे की भूमि राजस्व अभिलेख में दर्ज नहीं होने के कारण किसान क्रेडिट कार्ड नहीं बनने के आवेदन पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संबंधित तहसीलदार के विरूद्ध निलंबन की कार्रवाई करने के निर्देश दिये। नीमच जिले के ग्राम हतुनिया के श्री विष्णु धनगर के तालाब निर्माण की द्वितीय किश्त विलम्ब से मिलने के आवेदन पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विलम्ब के लिये कृषि विभाग के जिम्मेदार संबंधित अधिकारियों की जाँच के निर्देश दिये। शहडोल जिले के ग्राम बलबहरा के श्री गुरू प्रसाद पाण्डे को नहर निर्माण में अधिग्रहित भूमि का मुआवजा नहीं मिलने तथा रतलाम जिले की श्रीमती माधुरी भाटी और श्रीमती राजरत्ना राठौर को विवाह पंजीयन क्रमांक पत्र समय से नहीं मिलने के आवेदन पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जाँच के निर्देश दिये। जिला अशोकनगर के ग्राम खेजरा खुर्द की श्रीमती गुडडी बाई अहिरवार को उज्जवला योजना के तहत विलम्ब से गैस कनेक्शन उपलब्ध कराने के आवेदन पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि ग्रामीण क्षेत्रों में योजना के क्रियान्वयन पर विशेष ध्यान दिया जाये तथा पात्र हितग्राहियों को गैस रिफिल कराने में दिक्कत नहीं हो, इसकी व्यवस्था की जाये।
स्वरोजगार योजनाओं का लाभ दिलाने का विशेष अभियान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिये कि सभी जिलों में स्वरोजगार की योजनाओं में युवाओं को लाभ दिलाने के लिये विशेष अभियान चलाया जाये। स्वरोजगार की योजनाओं में लक्ष्य के अनुरूप प्रकरण बैंकों में भेजे जायें तथा लगातार फालोअप किया जाये। ग्रामीण क्षेत्रों में खेत में संबंधित किसानों द्वारा मकान बनाये जाने पर डायवर्सन शुल्क नहीं लिया जाये। लोक सेवा केन्द्रों से समय-सीमा में बिना किसी दिक्कत के लोगों को सेवायें उपलब्ध करायी जायें। उन्होंने कहा कि सुशासन राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। भावांतर भुगतान योजना में पूर्व में जिन किसानों ने पंजीयन नहीं कराया है, उनका पंजीयन आगामी 15 से 25 नवम्बर की बीच पोर्टल पर कराया जा सकेगा। श्री चौहान ने कहा कि यह सुनिश्चित करें कि सभी पात्र किसानों का पंजीयन हो जाये। पूर्व में 16 से 31 अक्टूबर के बीच मंडियों में फसल बेचने वाले 1 लाख 55 हजार पंजीकृत किसानों को आगामी 20 नवम्बर तक उनके खातों में भावांतर राशि पहुँचायी जाये। प्रत्येक जिले में आवासहीनों भू-अधिकार प्रमाण पत्र वितरण करने के लिये भू-अधिकार अभियान आगामी 26 जनवरी से 14 अप्रैल 2018 तक चलाया जायेगा। इसमें सुनिश्चित करें कि कोई भी पात्र व्यक्ति भूमिहीन नहीं रहे।
बेहतर प्रदर्शन करने वाले जिलों और अधिकारियों की सराहना
इस दौरान सी एम हेल्प लाइन में बेहतर प्रदर्शन करने वाले पाँच जिलों इंदौर, बैतूल, अलिराजपुर, बुरहानपुर और रतलाम को, पाँच जिला पंचायतों अलिराजपुर, बैतूल, बुरहानपुर, मंडला और सिवनी को तथा पाँच नगर निगमों रतलाम, सिंगरौली, भोपाल, छिंदवाड़ा और रीवा को मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बधाई दी। इसी तरह गृह विभाग से संबंधित सी एम हेल्प लाइन की शिकायतों के निराकरण में भिण्ड, नीमच, सिवनी, डिण्डौरी और मुरैना तथा वन विभाग से संबंधित शिकायतों के निराकरण में बड़वानी, शाजापुर, झाबुआ, देवास और नीमच जिले को बधाई दी। साथ ही सी एम हेल्प लाइन के प्रकरणों के निराकरण में बेहतर प्रदर्शन करने वाले अधिकारी -कर्मचारियों में सागर जिले के सहायक वाणिज्यिक कर अधिकारी श्री यशवंत धनौरा, नरसिंहपुर जिले के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के सहायक यंत्री श्री रंजन सिंह ठाकुर, नगर निगम भोपाल के सहायक स्वास्थ्य अधिकारी श्री राजीव सक्सेना,मंदसौर जिले के ऊर्जा विभाग के कनिष्ठ अभियंता श्री एन.के.प्रजापति, खण्डवा जिले के परिवहन विभाग के अपर संचालक श्री जगदीश प्रसाद बिल्लोरे और रीवा जिले के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी के सहायक यंत्री श्री एचएल पटेल, अशोकनगर जिले के कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी श्री महावीर राठौर, नगर निगम उज्जैन के स्वास्थ्य अधिकारी श्री बी.एस. मेहते, बालाघाट जिले के ऊर्जा विभाग के कनिष्ठ अभियंता श्री मदन लाल कश्यप और नरसिंहपुर जिले की उपायुक्त सहकारिता श्रीमती शकुंतला ठाकुर को बधाई दी।


aaस्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में भोपाल को देश का नम्बर एक शहर बनाने में योगदान दें - मुख्यमंत्री श्री चौहान


14 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल शहर के नागरिकों का आव्हान किया है कि वे स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में भोपाल को देश का नम्बर एक शहर बनाने में अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दें। श्री चौहान आज यहाँ स्वच्छता सर्वेक्षण 2017 में भोपाल को देश का नम्बर दो शहर बनाने वाली संस्थाओं, सामाजिक कार्यकर्ताओं, स्वच्छता सेवकों का सम्मान कर रहे थे। कार्यक्रम का आयोजन नगर निगम भोपाल द्वारा किया गया था। महापौर भोपाल श्री आलोक शर्मा ने कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण 2017 में भोपाल को पूरे देश में सम्मान दिलाने का श्रेय भोपाल की जनता और स्वच्छता सेवकों की रात दिन की मेहनत को जाता है। उन्होंने स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में भोपाल को साफ सुथरा, हरा भरा, प्रदूषण मुक्त और सुंदर शहर बनाने का संकल्प दिलाया। इस अवसर पर विधायक श्री सुरेन्द्र नाथ सिंह, भोपाल संभागायुक्त श्री अजातशत्रु, भोपाल कलेक्टर श्री सुदाम खाड़े एवं बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। इस अवसर पर स्वच्छता सर्वेक्षण में सहयोग एवं योगदान देने वाली कॉलोनियों और व्यवसायिक संघो, गणेश एवं दुर्गा उत्सव समितियों, विद्यालयों के प्राचार्य, महाविद्यालयों, एनसीसी केडिट, संस्था को समर्पित अशासकीय संगठन को मुख्यमंत्री ने सम्मानित किया। श्री सुरेन्द्र नाथ सिंह को स्वच्छता अग्रदूत पुरस्कार से सम्मानित किया गया। पार्षदों को स्वच्छता के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने एवं स्वच्छता की गतिविधियों को नेतृत्व प्रदान करने के लिये विकास निधि पुरस्कार स्वरूप प्रदान की गई।


aaसमाज के साथ नैतिक आंदोलन चलाने की आवश्यकता


14 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिये सभी क्षेत्रों में अभूतपूर्व कार्य किया गया है। इससे प्रदेश बीमारू राज्य की श्रेणी से बाहर आकर विकसित राज्यों की पांत में खड़ा हो गया है। उन्होंने समाज में नैतिक मूल्यों की गिरावट पर चिंता जाहिर करते हुये समाज के साथ मिलकर नैतिक आंदोलन चलाने की आवश्यकता बताई। मुख्यमंत्री आज यहाँ ई.टी.व्ही. चैनल द्वारा आयोजित 'राईजिंग मध्यप्रदेश' कार्यक्रम में बोल रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में पिछले एक दशक में अधोसंरचना विकास और जनकल्याण के ऐतिहासिक कार्य किये गये है। कृषि और सिंचाई के क्षेत्र में अदभुत कार्य हुआ है। पहले जहाँ साढ़े सात लाख हेक्टेयर में सिंचाई होती थी वहीं अब 40 लाख हेक्टेयर में सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराई गई है। जिसे बढ़ाकर 60 लाख हेक्टेयर तक किया जायेगा। खेती की लागत को कम करने और इसे फायदा का धंधा बनाने के लिये व्यापक कदम उठाये गये हैं। इसके परिणामस्वरूप प्रदेश की कृषि विकास दर लगातार पाँच वर्षों से 20 प्रतिशत से ऊपर बनी हुई है। जो देश ही नहीं दुनिया का अजूबा है। साथ ही किसानों उनकी उपज का वाजिब दाम दिलाने के लिये भावांतर योजना शुरू की गई है जो कि किसानों के लिये सुरक्षा कवच के समान है। श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में पहले जहाँ 29 सौ मेगावॉट बिजली का उत्पादन होता था वहीं अब बढ़कर 18 हजार मेगावॉट हो गया है। इससे सभी गांव एवं शहरों में गुणवत्तापूर्ण बिजली उपलब्ध करायी जा रही है। प्रदेश में सौर एवं पवन ऊर्जा उत्पादन पर भी ध्यान दिया गया है। रीवा में साढ़े सात सौ मेगा वॉट का सोलर पावर प्लांट स्थापित किया गया है। प्रदेश में सवा लाख किलो मीटर सड़कों का निर्माण किया गया है। अगले दो सालों में सभी गांव सड़कों से जुड जायेंगे। टोले - मजरों में बिजली उपलब्ध कराने का काम चल रहा है। इसके साथ ही शहरी क्षेत्र के विकास के कार्य तेजी से चल रहे हैं। इन कार्यों पर 85 हजार करोड़ रूपये खर्च किये जायेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि युवाओं को रोजगार एवं स्वरोजगार से जोड़ने के लिये व्यापक कदम उठाये गये हैं। अगले एक वर्ष में साढ़े सात लाख युवाओं को रोजगार दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि कोई भी विद्यार्थी धन के अभाव में शिक्षा से वंचित न रहे। इसके लिये मेधावी विद्यार्थी सहायता योजना शुरू की गई है। इसी तरह सबको आवासीय भू-खण्ड उपलब्ध कराने के लिये प्रदेश में ऐतिहासिक कानून बनाया गया है। इसके अंतर्गत भू-अधिकार अभियान चलाया जायेगा। इसके साथ शिक्षा, स्वास्थ्य, महिला सशक्तिकरण और पर्यटन आदि क्षेत्रों में व्यापक कार्य किये गये हैं।


aaराजस्व मंत्री ने बाल दिवस पर विद्यार्थियों को किया पुरस्कृत


14 November 2017

राजस्व, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने देश के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू के जन्म-दिवस पर आयोजित बाल दिवस समारोह में उत्कृष्ट विज्ञान मॉडल और स्वादिष्ट व्यंजन बनाने वाले विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया। उन्होंने विज्ञान प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। बाल दिवस समारोह डॉ. अम्बेडकर जयंती पार्क में मनाया गया। श्री गुप्ता ने विद्यार्थियों से कहा कि प्रयास करें तो कोई भी कार्य असंभव नहीं है, लेकिन प्रयास पूरे मन से करें। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों ने बेहतरीन मॉडल बनाया है। श्री गुप्ता ने कहा कि कला और संस्कृति सहित किसी भी क्षेत्र में उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल करने वाली महिला को वार्ड-47 का ब्राँड एम्बेसेडर बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि चयनित ब्राँड एम्बेसेडर को 11 हजार रुपये की नगद राशि सम्मान के रूप में दी जाएगी। सांसद श्री आलोक संजर ने कहा कि बच्चे बाल दिवस पर स्वच्छता का संकल्प लें। उन्होंने विभिन्न कहानियों के माध्यम से बच्चों को आगे बढ़ने की प्रेरणा दी। पार्षद श्री राजेश खटिक ने बताया कि ब्राँड एम्बेसेडर के लिए आवेदन 30 नवम्बर से 15 दिसम्बर तक लिए जाएंगे। चयन समिति द्वारा 30 दिसम्बर को ब्राँड एम्बेसेडर का चयन किया जाएगा।


aaबाल दिवस कार्यक्रम में महिला-बाल विकास राज्य मंत्री श्रीमती ललिता यादव


14 November 2017

महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री श्रीमती ललिता यादव ने कहा कि बच्चे देश का भविष्य हैं, उन्हें निर्भीक बनाएं। श्रीमती यादव आज बाल दिवस के अवसर पर जवाहर बाल भवन में कार्यक्रम को संबोधित कर रही थीं। मंत्री श्रीमती यादव ने कहा कि हर बच्चे में अलग-अलग प्रतिभा होती है। इसे परखना और आगे बढ़ाना माता-पिता और गुरु की जिम्मेदारी है। बाल दिवस के अवसर पर श्रीमती ललिता यादव ने बच्चों को टॉफियाँ बाँटी और गुब्बारे उड़ाए। इस अवसर पर उन्होंने प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया। साथ ही विभिन्न सांस्कृतिक, चित्रकला, संगीत आदि कलाओं में विजयी बच्चों को पुरस्कार वितरित किए।


aaविश्व मधुमेह दिवस पर जे.पी. अस्पताल में हुई जागरूकता रैली


14 November 2017

विश्व मधुमेह दिवस पर चिनार पार्क से जयप्रकाश नारायण अस्पताल तक जागरूकता रैली निकाली गई। रैली में शामिल अस्पताल के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुधीर जेसानी, अधीक्षक डॉ. इन्द्रकुमार चुघ और डॉ. प्रदीप चन्द्रा सहित नर्सिंग स्टॉफ और छात्र-छात्राओं ने लोगों को मधुमेह के लक्षण और इनकी रोकथाम के उपायों की जानकारी दी। मधुमेह दिवस पर आज प्रदेश के सभी जिलों में विभिन्न गतिविधियाँ और शिविर आयोजित कर लोगों में इस रोग के विरुद्ध जागरूकता उत्पन्न की गई। राष्ट्रीय कैंसर, मधुमेह, ह्रदय रोग और स्ट्रोक नियंत्रण कार्यक्रम के तहत सभी जिलों में 30 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों की डायबिटीज, हायपरटेंशन, ह्रदय रोग की नि:शुल्क जाँच भी की गई। इस वर्ष यह दिवस महिला एवं डायबिटीज विषय पर केन्द्रित था।


aaगर्ल्स हॉस्टल, धार्मिक स्थलों और स्कूलों के आसपास की शराब दुकानें बंद होंगी


13 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिये हैं कि गर्ल्स हॉस्टल, धार्मिक स्थलों और स्कूलों के आसपास की शराब दुकानें बंद की जायें। ऐसे स्थलों की सूची बनाकर यह कार्रवाई की जाये। शराब दुकानों के अहाते तुरंत बंद किये जायें। युवाओं में जागरूकता लाने के लिये स्कूलों-कालेजों में विशेष अभियान चलाया जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ महिला अपराधों पर नियंत्रण के संबंध में समीक्षा बैठक ले रहे थे। बैठक में मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह और पुलिस महानिदेशक श्री आर.के.शुक्ला भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पिछले सप्ताह इस संबंध में ली गयी बैठक के निर्णयों के पालन में की गई कार्रवाई की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि स्कूल-कॉलेज और लोक परिवहन की बसों में जी.पी.एस. सिस्टम और सी.सी.टी.व्ही. कैमरे लगाना अनिवार्य रूप से सुनिश्चित किया जाये। इसका पालन नहीं करने वाली संस्थाओं की मान्यता निरस्त की जाये। महिला छात्रावासों के प्रवेश द्वार पर सी.सी.टी.व्ही.लगाना सुनिश्चित किया जाये। संवेदनशील स्थानों पर स्थित शराब की दुकानें चिन्हित कर उन्हें बंद कराया जाये। महिला अपराध के प्रकरणों में तुरंत चिकित्सा सहायता उपलब्ध करवाई जाये और चिकित्सकों में संवेदनशीलता के लिये स्वास्थ्य विभाग के अमले को प्रशिक्षित किया जाये।
प्रत्येक जिले में वन स्टाप सेंटर स्थापित होंगे
बैठक में बताया गया कि पुलिस विभाग द्वारा महिला अपराधों की रोकथाम के लिये महिलाओं से विशेष संपर्क कार्यक्रम के तहत स्कूलों - कॉलेजों में संपर्क किया जा रहा है। इसके तहत दो सप्ताह में करीब ढ़ाई लाख महिलाओं-युवतियों से संपर्क किया जायेगा। महिला अपराध तुरंत पंजीबद्ध हों, इसके लिये पुलिस के मैदानी अमले को अगले तीन माह में व्यापक प्रशिक्षण दिया जायेगा। वर्तमान में चल रहे इस तरह के प्रकरणों की समीक्षा कर त्वरित कार्रवाई की जायेगी। स्कूल बसों में महिला परिचालक की उपस्थिति अनिवार्य करने तथा चालकों के चरित्र सत्यापन के लिये परिवहन विभाग द्वारा निर्देश जारी किये गये हैं। स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा सभी स्कूलों में गुड टच - बेड टच के बारे में फिल्म दिखाकर बच्चों को जागरूक किया जायेगा। महिला अपराधों की आपातकालीन शिकायत के लिये 100 और 1090 हेल्प लाइन पर दर्ज प्रकरणों की लगातार समीक्षा की जायेगी। आगामी मार्च माह से पहले प्रत्येक जिले में वन स्टाप सेंटर स्थापित किये जायेंगे। संवेदनशील स्थानों पर पर्याप्त प्रकाश व्यवस्था सुनिश्चित की जायेगी। पोर्न साइट्स के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता लाने के लिये विशेषज्ञों द्वारा विशेष शिविर लगाकर स्कूलों में जानकारी दी जायेगी। इस संबंध में जारी निर्देशों की अपर मुख्य सचिव गृह द्वारा हर सप्ताह मॉनिटरिंग की जायेगी। बैठक में एडीजी इंटेलीजेंस श्री राजीव टंडन, एडीजी महिला अपराध श्रीमती अरूणा मोहन राव, प्रमुख सचिव महिला एवं बाल विकास श्री जे.एन. कंसोटिया, प्रमुख सचिव परिवहन श्री एस.एन.मिश्रा, प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन श्री मलय श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती दीप्ति गौड मुखर्जी, प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर श्री मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्रीमती गौरी सिंह, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री एस.के. मिश्रा, मुख्यमंत्री के ओएसडी श्री आदर्श कटियार, आयुक्त महिला एवं बाल विकास श्रीमती जयश्री कियावत, आयुक्त नगरीय प्रशासन एवं विकास श्री विवेक अग्रवाल और गृह सचिव श्री विवेक शर्मा भी उपस्थित थे।


aaहोम्योपैथी कॅरियर काउंसिलिंग के लिए शुरू हुआ फर्स्ट स्टेप कार्यक्रम


13 November 2017

देश में पहली बार मध्यप्रदेश में राज्य होम्योपैथी परिषद द्वारा होम्योपैथी के इंटर्नशिप कर रहे छात्र-छात्राओं के लिए कॅरियर काउंसिलिंग कार्यक्रम 'फर्स्ट स्टेप' शुरू किया गया है। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण तथा आयुष मंत्री श्री रुस्तम सिंह ने आज कार्यक्रम का शुभारंभ किया। प्रमुख सचिव आयुष श्रीमती शिखा दुबे, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा श्रीमती गौरी सिंह, मध्यप्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय के कुलपति श्री आर.एन. शर्मा और परिषद की रजिस्ट्रार श्रीमती आयशा अली भी कार्यक्रम में उपस्थित थे। श्री रुस्तम सिंह ने नवाचार की प्रशंसा करते हुए कहा कि सफलता हमेशा कठिन परिश्रम के बाद ही मिलती है। कॅरियर काउंसिलिंग से छात्र-छात्राओं को मार्गदर्शन मिलने से सफलता आसान हो जाएगी। उन्होंने छात्र-छात्राओं के उज्जवल भविष्य की कामना की। श्री सिंह ने कहा कि इलाज की कोई भी विधा कमतर नहीं है। एलोपैथी के साथ ही होम्योपैथी, आयुर्वेद और यूनानी का अपना विशिष्ट स्थान है। दो दिवसीय कार्यशाला के पहले दिन मुम्बई के सुप्रसिद्ध होम्योपैथी विशेषज्ञ डॉ. जवाहर शाह ने पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन दिया। तकरीबन 100 देशों में लोकप्रिय हो चुके इस सॉफ्टवेयर को छात्र-छात्राओं द्वारा बहुत पसंद किया गया है। कुलपति डॉ. शर्मा ने बताया कि उनका विश्वविद्यालय अगले वर्ष से सर्वोच्च स्थान प्राप्त करने वाले होम्योपैथी छात्र को गोल्ड मैडल से सम्मानित करने पर विचार कर रहा है। साथ ही, एक जर्नल भी प्रकाशित किया जाएगा, जिसमें होम्योपैथी में शोध कार्य करने वाले विद्यार्थियों के आलेख प्रकाशित होंगे।


aaराज्य मंत्री श्री सारंग एवं सांसद श्री संजर द्वारा "सिन्धु आइडल-6 के विजेता पुरस्कृत


13 November 2017

सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग एवं सांसद श्री आलोक संजर ने सिंधु आइडल-6 के विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किए। राज्य मंत्री श्री सारंग ने संस्कृति पर आधारित कहानी सुनाते हुए भाषा एवं संस्कृति को बचाने के लिए इस तरह के आयोजन को जरूरी बताया। सिंधी साहित्य अकादमी के गीत एवं नृत्यों पर केन्द्रित 'सिंधु आइडल-6 का फाइनल राउण्ड रंगारंग सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के साथ सम्पन्न हुआ। सिंधी महापंचायत भोपाल के सहयोग से यह आयोजन समन्वय भवन में किया गया। 'सिंधु आइडल-6'' में गायन एवं नृत्य के प्रथम विजेता प्रतिभागियों हांसिका भाटिया, रतलाम एवं दिव्या पाहूजा बुरहानपुर को 11 हजार रूपये प्रत्येक नगद पुरस्कार राशि एवं ट्रॉफी से सम्मानित किया गया। द्वितीय एवं तृतीय प्रतिभागियों के साथ ही शेष प्रतिभागियों को प्रतीक चिन्ह एवं उपहार सांत्वना पुरस्कार प्रदान किये गए। कला-संस्कृति के क्षेत्र में सिंधी युवाओं को आगे लाने के उद्देश्य से आयोजित इस कार्यक्रम में भोपाल, इंदौर, उज्जैन, रतलाम, बुरहानपुर, कटनी, रीवा, मैहर, सागर एवं जबलपुर से चयनित प्रतिभागी शामिल हुए। इसके ऑडिशन भोपाल, कटनी एवं इंदौर में किये गए थे।


aaगरीब कल्याण योजनाओं का पोर्टल बनेगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दिल से कार्यक्रम में जनता से किया सीधा संवाद


13 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सभी गरीबों को योजनाओं का लाभ पहुँचाने के लिये एकीकृत गरीब कल्याण पोर्टल बनेगा। युवाओं के कौशल उन्नयन और स्वरोजगार पर फोकस के लिये युवा शक्तिकरण मिशन बनेगा। मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार और राज्य बीमारी सहायता योजना के आवेदन और स्वीकृति की प्रक्रिया ऑन लाईन होंगी। गंभीर रोगों की पहचान के लिये शिविर लगेंगे। मुख्यमंत्री द्वारा भू-अधिकार अभियान की जमीनी हकीकत की समीक्षा की जायेगी। मासूम बच्चियों के साथ दुराचार करने वाले नर पिशाचों को मृत्यु दंड देने जन सुरक्षा विधेयक पारित करवा कर केन्द्र सरकार से राज्य सरकार अनुरोध करेगी। अगले वर्ष से शराब के अहातों की व्यवस्था समाप्त होगी। चरण पादुका योजना का क्रियान्वयन जनवरी से शुरू हो जायेगा। सहरिया, भारिया, और बैगा परिवारों को आगामी तीन वर्षों में प्रधानमंत्री आवास प्राथमिकता के साथ दिये जायेंगे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज दिल से कार्यक्रम में प्रदेश की जनता के साथ रेडियो के माध्यम से सीधा संवाद करते हुए ये घोषणाएं कीं। मुख्यमंत्री ने कहा है कि सरकार गरीब की हर जरूरत पूरा करेगी। गरीब के पैरों में कांटा भी नहीं लगने पाये, इस भाव से सरकार जिम्मेदारियों का निर्वहन कर रही है। राज्य सरकार गरीबों की मूलभूत आवश्यकता की व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने का निरंतर प्रयास कर रही है। गरीब कल्याण वर्ष के अंतर्गत गरीब कल्याण एजेंडा बनाकर प्रयासों को नई दिशा और गति दी गई है। उन्होंने समाज और स्वैच्छिक संगठनों का आह्वान किया कि वे सरकार के प्रयासों में सहयोग के लिये आगे आयें। उन्होंने कहा कि आनंदम् केन्द्रों में ऊनी वस्त्रों का दान प्राप्त करने की व्यवस्था है। मुख्यमंत्री ने जनता से अपील की कि गरीबों के लिये अधिक से अधिक ऊनी वस्त्र दान करें उन्होंने अन्याय, शोषण मुक्त और सदाचारी समाज के निर्माण के लिये सभी वर्गों के सहयोग की जरुरत भी बतायी। श्री चौहान ने खेती को लाभकारी बनाने के लिये किये जा रहे कार्यों का उल्लेख करते हुये कहा कि भावांतर भुगतान योजना पर संशय निर्मूल है। इस योजना को फसल का वाज़िब मूल्य दिलाने का पहला सफल प्रयोग बताते हुए उन्होंने कहा कि योजना में फसलों के समर्थन मूल्य और तीन राज्यों के बिक्री मूल्यों का औसत मॉडल रेट का भावांतर किसानों को मिल रहा है। गत 16 अक्टूबर से 31 अक्टूबर के मध्य फसल विक्रय करने वाले योजना में पंजीकृत किसानों के बैंक खातों में 20 नवम्बर तक भावांतर की राशि पहुँचायी जायेगी। सोयाबीन के लिये 470 रुपये प्रति क्विंटल, उड़द के लिये 2400 रुपये प्रति क्विंटल, मूँग के लिये 1455 रुपये प्रति क्विंटल, मूँगफली के लिये 730 रुपये प्रति क्विंटल, मक्के के लिये 235 रुपये प्रति क्विंटल भावांतर की राशि किसानों के बैंक खातों में सरकार जमा करवायेगी। सूखे की स्थिति पर चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की सहायता के लिये आपात योजना बना रहे हैं, किसान बिल्कुल चिंता नहीं करें, सरकार उनका पूरा ध्यान रखेगी। विद्युत के अस्थायी कनेक्शन दो माह के अवधि के लिये भी मिलेंगे। अब जले ट्रांसफामरों को बदलने के लिये मात्र बीस प्रतिशत राशि अग्रिम देना होगी। गरीब कल्याण एजेंडा का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि गरीब को भरपेट भोजन मिले, इसलिये एक रुपये किलो गेहूँ, चावल, नमक दिया जा रहा है। प्रदेश में जन्मे हर गरीब के पास रहने लायक भूमि के टुकड़े का अधिकार कानून बनाकर दिया है। इसे भू-अधिकार अभियान द्वारा सुनिश्चित किया जा रहा है। वे स्वयं इसकी समीक्षा करेंगे। बड़े शहरों में जहां भूमि देना संभव नहीं है, बहुमंजिला इमारतों में आवास उपलब्ध करवाये जा रहे हैं। श्री चौहान ने प्रधानमंत्री आवास, सौभाग्य और उज्जवला योजनाओं जैसी संवेदनशील पहल के लिये प्रधानमंत्री का आभार ज्ञापित किया। उन्होंने बताया कि शहरों में लगभग 3 लाख और गांवों में लगभग 7 लाख मकानों का निर्माण हो रहा है। वर्ष 2022 तक सभी गरीबों को छत मिल जायेगी। सौभाग्य योजना में हर गरीब घर को नि:शुल्क विद्युत कनेक्शन मिलेगा। उज्जवला योजना से माताओं-बहनों को चू्ल्हे पर खाना बनाने से होने वाली बीमारियों से निजात दिलायी है। श्री चौहान ने शिक्षा के लिये बच्चों को प्रोत्साहित करने की योजनाओं का जिक्र करते हुए दसवीं, ग्यारहवीं और बारहवीं के बच्चों से कहा कि उनके लिये यह समय भविष्य की नींव के निर्माण का है। खूब मेहनत से पढ़ाई करें और अच्छे नम्बर लाने का प्रयास करें। फीस की चिंता नहीं करें। फीस सरकार भरवायेगी। बीमारी में गरीब की मजदूरी बन्द होने और उपचार में लगने वाले पैसे की दिक्कतों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार ने निशुल्क उपचार, दवा, पैथालॉजी जांच और अस्पताल में नि:शुल्क भोजन की व्यवस्था की है। गंभीर रोगों के उपचार के लिये मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान, राज्य बीमारी सहायता योजना आदि के माध्यम से गरीब के उपचार की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। मु्ख्यमंत्री ने कहा कि गरीब परिवारों को विवाह, शिक्षा और उपचार से लेकर सभी जिम्मेदारियाँ निभाने में सरकार सहयोग करेगी। बेटियों को परिवार बोझ नहीं समझें। मुख्यमंत्री कन्यादान/निकाह योजनाएं संचालित की गई हैं। सभी गरीबों को उनके कल्याण के लिये संचालित योजनाओं का लाभ दिलाने के लिये गरीब कल्याण पोर्टल के नाम से एकीकृत पोर्टल की स्थापना की जा रही है। आदमी को आदमी ढोएं यह प्रथा अन्याय है। इसे समाप्त करने के लिये साइकिल रिक्शा को ई-रिक्शा में बदला जायेगा। भवन संनिर्माण कर्मकार मंडल की महिला श्रमिकों को संतान के जन्म के अवसर पर डेढ़ माह की मजदूरी, उसके पति को 15 दिवस की छुट्टी और लड्डू के लिये एक हजार रुपये उपलब्ध करवाने की व्यवस्था है। आगामी जनवरी माह में वनोपज संग्राहकों को जूते/चप्पल पहनाने की योजना का क्रियान्वयन होने लगेगा। जंगल में स्वच्छ ठंडा पानी उपलब्ध हो, इसके लिए संग्राहकों को कुप्पी भी दी जायेगी। वनोपज के वाज़िब मूल्यों को भी सरकार ने सुनिश्चित किया है। तीर्थ दर्शन योजना में अब पांच वर्ष के अंतराल से बुजुर्ग पुन: नये तीर्थ का दर्शन कर सकते हैं। शहर आने वाले गरीबों को गुणवत्तापूर्ण भरपेट भोजन दीनदयाल अंत्योदय रसोई में पांच रुपये में उपलब्ध है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दिल से कार्यक्रम में जनता से सीधा संवाद करते हुए आज रोजगार के मुद्दे पर बात करते हुये बताया कि मुख्यमंत्री स्वरोजगार, युवा उद्यमी और अन्य आर्थिक कल्याण योजनाएं संचालित हैं। सरकार ऋण की गारंटी लेने के साथ ही 15 प्रतिशत अनुदान और पांच वर्ष तक 5 प्रतिशत ब्याज अनुदान उपलब्ध कराकर युवाओं को स्वरोजगार के लिये प्रोत्साहित कर रही है। सरकार का प्रयास है कि प्रदेश में कुटीर एवं लघु उद्योगों का जाल बिछ जाये। कौशल उन्नयन और स्वरोजगार पर फोकस के लिये युवा शक्तिकरण मिशन बनाने की जानकारी देते हुए उन्होंने आर्थिक आत्म निर्भरता में स्व-सहायता समूहों की महत्ता की चर्चा की। उन्होंने नीमच की बहनों गायत्री, पिंकी, लाजा देवी आदि का धन्यवाद करते हुये बताया कि उन्होंने सावित्री बाई फूले स्व-सहायता समूह विकास योजना में 50 प्रतिशत अनुदान सहित ऋण प्राप्त कर अपना जीवन ही बदल लिया है। संगिनी स्व-सहायता समूह की बहनों द्वारा बांस की टोकरियों के निर्माण से प्रति माह 8 से 10 हजार रुपये कमाने की बात करते हुये कहा कि खंडवा के संत रैदास वार्ड की बहनों प्रीति, मनीषा, ऋतु ने भी मुख्यमंत्री कौशल उन्नयन योजना में प्रशिक्षण प्राप्त कर स्व-सहायता समूह बनाकर ब्यूटी कल्चर और हेयर ड्रेसिंग व्यवसाय द्वारा स्वयं को आत्म-निर्भर बना लिया है। सीधी जिले के विकासखंड रामपुर के भरतपुर खरहना, भैंसराह और कपूरी कोठार गांव के 60 युवाओं ने मुख्यमंत्री कौशल उन्नयन प्रशिक्षण योजना में स्वदेशी वस्त्र निर्माण शिल्प का प्रशिक्षण प्राप्त किया। ट्राइब्स इंडिया से मार्केट लिंकेज कर इन युवाओं ने रोजगार प्राप्त करने के साथ ही स्वदेशी पहनावे को प्रोत्साहित किया है। प्रत्येक युवा 6 से 9 हजार रुपये प्रति वर्ष की आमदनी भी प्राप्त कर रहा है। सरकार का प्रयास है कि एक वर्ष में साढ़े सात लाख युवाओं को रोजगारन्मुखी व्यवसाय में और इतनी ही बड़ी संख्या में युवाओं का कौशल उन्नयन कराया जाये। मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। सार्वजनिक परिवहन वाहनों में जीपीएस सिस्टम लगवाने और स्कूल एवं यात्री बसों में सीसीटीव्ही कैमरे लगवाने की व्यवस्था की जायेगी। वाहन चालकों के रिकार्ड रखने, उनकी निगरानी करने के साथ ही महिला-कन्या छात्रावासों, आश्रय गृह आदि की विशेष सुरक्षा व्यवस्था होगी। संवेदनशील क्षेत्र भी चिन्हित किये जायेंगे, जहां प्रभावी पुलिस पेट्रोलिंग और प्रकाश की व्यवस्था होगी। यौन उत्पीड़न को रोकने के लिये कानून कड़ी कार्यवाही करेगा। श्री चौहान ने संवाद के दौरान विगत दिनों मनाये गये पर्वों का उल्लेख एवं उनकी उपयोगिता की चर्चा करते हुए पर्यावरण संतुलन की महत्ता प्रतिपादित की। गरीब कल्याण के लिये सरकार की प्रतिबद्धता को दोहराते हुए उन्होंने कहा कि सरकार उनके कल्याण में कोई कसर नहीं छोडे़गी। उन्होंने मध्यप्रदेश स्थापना दिवस का जिक्र करते हुये कहा कि प्रदेश ने विकास की कई मंजिलें तय की हैं, अभी और की जानी है। सरकार के प्रयासों में समाज और आमजन का सहयोग ही विकास के लक्ष्य को प्राप्त करवाता है। जनता के सहयोग से ही नये मध्यप्रदेश और नये भारत का निर्माण होगा।


aaराष्ट्रपति ने नर्मदा उदगम स्थल और नर्मदा मंदिर में पूजा-अर्चना की


11 November 2017

राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने आज अमरकंटक में नर्मदा उदगम स्थल व माँ नर्मदा मंदिर में पूजा-अर्चना की। राष्ट्रपति के साथ उनकी धर्मपत्नी श्रीमती सविता कोविंद, राज्यपाल श्री ओ.पी. कोहली, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह तथा सूक्ष्म, लघु एवं उद्यम विभाग राज्य मंत्री व अनूपपुर जिले के प्रभारी मंत्री श्री संजय सत्येन्द्र पाठक उपस्थित थे। इससे पूर्व राष्ट्रपति का नर्मदा मंदिर आगमन पर हार्दिक स्वागत किया गया। उन्होंने नर्मदा उदगम स्थल में नर्मदा जल से आचमन किया। पुजारियों ने विधि-विधान से मंत्रोच्चार के साथ पूजन करवाया। राष्ट्रपति को नर्मदा के उदगम के बारे में बताया गया। उन्होंने उदगम स्थल में जल के स्वच्छ रहने तथा नर्मदा नदी की स्वच्छता के विषय में जानकारी प्राप्त की। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान नर्मदा नदी को स्वच्छ रखने के लिए चलाये गये अभियान में सभी की भागीदारी सुनिश्चित कराते हुए लोगों को जागरूक करने का कार्य किया गया था। राष्ट्रपति ने उदगम स्थल में ही शिवलिंग का पूजन भी किया। राष्ट्रपति ने नर्मदा मंदिर में भी पूजा-अर्चना की। मंदिर प्रशासन की तरफ से राष्ट्रपति को अंगवस्त्र, श्रीफल, स्मृति चिन्ह एवं प्रसाद भेंट किया गया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने राष्ट्रपति को माँ नर्मदा का चित्र भेंट किया।


aaराष्ट्रपति श्री कोविंद को भावभीनी विदाई


11 November 2017

राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद को भोपाल से भावभीनी विदाई दी गई। राष्ट्रपति अमरकंटक में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने के लिये विमान तल से आज प्रात: रवाना हुए। राज्यपाल श्री ओम प्रकाश कोहली, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान, राष्ट्रपति की धर्मपत्नी श्रीमती सविता कोविंद और मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह उनके साथ गये हैं। राष्ट्रपति की विदाई अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष श्री सीतासरण शर्मा, राज्यमंत्री श्री लाल सिंह आर्य, महापौर श्री आलोक शर्मा, नगर निगम अध्यक्ष श्री सुरजीत सिंह चौहान, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला, सेना की 21वीं कोर के प्रभारी कमांडर श्री अजय चौहान, संभागायुक्त श्री अजातशत्रु, पुलिस महानिरीक्षक श्री जयदीप प्रसाद, कलेक्टर श्री सुदाम खाड़े, उप महानिरीक्षक पुलिस श्री एस.के. सिंह सहित गणमान्य नागरिक एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


aaसंत कबीर की शिक्षा समाज के लिये संजीवनी : कबीर महोत्सव में राष्ट्रपति श्री कोविंद


10 November 2017

राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने कहा है कि संत कबीर ने अन्याय और आडम्बर से मुक्त समानता पर आधारित समाज का ताना-बाना बुना था। उनकी शिक्षा समाज के लिये संजीवनी है। वे गहरे अर्थों में निर्बल लोगों के पक्षधर थे। वे संत से बड़े समाज सुधारक थे। राष्ट्रपति श्री कोविंद आज यहाँ लाल परेड मैदान पर सदगुरू कबीर महोत्सव को संबोधित कर रहे थे। राष्ट्रपति श्री कोविंद ने कहा है कि संत कबीर ने अंधविश्वास और पाखण्ड पर कठोर प्रहार किया था। संविधान में न्याय, समानता और बंधुत्व के आदर्श कबीर से प्रेरित है। संत कबीर मानव प्रेम के पक्षधर थे। संत कबीर की वाणी का उल्लेख गुरू नानक ने गुरू ग्रंथ साहिब में किया है। संत कबीर की शिक्षा समानता और समरसता की है। साहस के साथ अंध विश्वास को समाप्त करना ही निर्भीकता है। कबीर ने अपने जीवन में इसका उदाहरण प्रस्तुत किया था। उन्होंने आव्हान किया कि मानवता से प्रेम करने के आदर्श पर चलकर देहदान करें। मानव अंगों के दान से कई लोगों को जीवन मिल सकता है।
समावेशी और संवेदनशील सोच पर आधारित विकास
राष्ट्रपति श्री कोविंद ने कहा कि संत कबीर के जीवन का मुख्य संदेश सबको समानता के साथ आगे बढ़ने का अवसर देना है। मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में राज्य सरकार इसी दिशा में समावेशी विकास के लिये कार्य कर रही है। आर्थिक विकास में सफलतम प्रदेश मध्यप्रदेश में सबको विकास के अवसर उपलब्ध कराये गये हैं। प्रदेश की जीडीपी एक लाख करोड़ रूपये से बढ़ कर पाँच लाख करोड़ रूपये तक पहुँच गयी है। यह विकास समावेशी और संवेदनशील सोच पर आधारित है। इसी सोच से लाड़ली लक्ष्मी जैसी योजना बनी है। कृषि और ग्रामीण विकास के क्षेत्र में मध्यप्रदेश ने उल्लेखनीय प्रगति की है। समाज के अंतिम व्यक्ति के विकास को ध्यान में रखकर योजनाएँ क्रियान्वित की जा रही हैं। संत कबीर का मध्यप्रदेश से गहरा नाता रहा है। प्रदेश के बाँधवगढ़ में उन्होंने लम्बा प्रवास किया था। वहाँ पर कबीर गुफा तीर्थ-स्थल है। मध्यप्रदेश की हर हिस्से की अपनी गौरव गाथा है। यहाँ साँची में बौद्ध स्तूप तथा अमरकंटक में प्रथम जैन तीर्थंकर श्री ऋषभदेव का मंदिर है। उज्जैन और ओंकारेश्वर में ज्योर्तिलिंग हैं। उज्जैन का सिंहस्थ कुंभ प्रसिद्ध है। मध्यप्रदेश की धरती ने संगीत सम्राट तानसेन, पूर्व राष्ट्रपति डॉ. शंकरदयाल शर्मा, पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटलबिहारी वाजपेयी, नानाजी देशमुख, सुर साम्राज्ञी लता मंगेशकर और बाबा साहेब अंबेडकर जैसे अनगिनत रत्न पैदा किये है।
कबीर एक निर्भीक संत थे
राज्यपाल श्री ओ.पी. कोहली ने कहा है कि भारत धर्म प्रधान देश है। जिसमें साधु-संतों को समाज में आदर मिलता है। कबीर एक निर्भीक संत थे, जिन्होंने किताबी ज्ञान से परे हटकर अनुभवों के आधार पर सत्य का दर्शन करवाया। उन्होंने पाखण्डों का घोर विरोध किया और आँखिन देखी पर बल दिया। कबीर की वाणी कल्याणकारी और जीवन अनुभवों को सुदृढ़ करने वाली है। संत कबीर लोक कवि थे, जिन्होंने लोक जागरण किया। पुरानी रूढ़ियों को तोड़कर प्रगति के पथ पर बढ़ाने वाली विचारधारा के संत थे। उन्होंने समाज में समानता की भावना को बढ़ाने का काम किया।
सामाजिक समरसता का संदेश
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि संत कबीर का दर्शन आज भी प्रासंगिक है। उनका यह दर्शन पूरे जीवन को बदल सकता है। साथ ही भौतिकता के अग्नि में दग्ध विश्व को शाश्वत शांति का दिग्दर्शन कराने में सक्षम हैं। संत कबीर ने समानता और सामाजिक समरसता का संदेश दिया है। संत कबीर ने जाँत-पाँत को महत्व न देते हुए ज्ञान और प्रेम को महत्व दिया है। उन्होंने रूढ़ियों और पाखण्डों का विरोध किया। श्री चौहान ने संत कबीर के दोहे और साखियों का उल्लेख करते हुए कहा कि भगवान उसी तरह हर घट में रहते हैं जिस तरह मेहंदी के पत्तों में लाल रंग छिपा रहता है। यदि कहीं भगवान हैं तो गरीबों में हैं। गरीब की सेवा ही भगवान की पूजा है। उसी के अनुसार मध्यप्रदेश सरकार गरीबों के कल्याण का कार्य कर रही है। श्री चौहान ने कहा है कि गरीबों के रोटी-कपड़ा और मकान तथा उनके बच्चों की पढ़ाई-लिखाई और दवाई के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं। मध्यप्रदेश एक मात्र राज्य है जहाँ हर आवासहीन को भूखण्ड प्रदाय का कानून बनाया गया है। उन्होंने कहा कि सभी गरीबों को चार वर्ष में पक्के मकान मुहैया करवाये जायेंगे। अनुसूचित जाति, जनजाति सहित सभी गरीबों को एक रूपये किलो गेहूँ और चावल मुहैया करवाया जा रहा है। पैसों के अभाव में कोई विद्यार्थी शिक्षा से वंचित न रहे इसके लिये मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी सहायता योजना शुरू की गई है। शहरों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को रहने के कमरे का किराया तथा विदेश अध्ययन के लिये छात्रवृत्ति भी उपलब्ध करवायी जा रही है।
हर वर्ष डेढ़ लाख युवाओं को स्व-रोजगार के लिये मदद
मुख्यमंत्री ने कहा कि ज्ञानोदय, श्रमोदय, एकलव्य, विद्यालयों का जाल बिछाया जायेगा। मध्यप्रदेश के अनुसूचित जाति-जनजाति के ड़ेढ़ लाख युवाओं को हर वर्ष रोजगार के लिये ऋण-अनुदान सहायता तथा पाँच वर्ष तक पाँच प्रतिशत ब्याज अनुदान मुहैया करवाया जायेगा। एक लाख बच्चों को स्व-रोजगार के लिये मदद दी जायेगी। तीन वर्षों में तीन लाख युवाओं को कौशल उन्नयन का प्रशिक्षण दिया जायेगा। संत कबीर के दर्शन पर शोध के लिये दो विश्वविद्यालय में कबीर सृजन पीठ की स्थापना की जायेगी। आत्मा का गान करने वाली कबीर भजन मंडलियों को एकतारा के लिये सहायता दी जायेगी। प्रदेश में स्थित कबीर चौराहों, मठों का पुनउद्धार किया जायेगा। हर वर्ष कबीर महाकुंभ का आयोजन किया जायेगा तथा कबीर के विचारों को आगे बढ़ाने वाले स्वैच्छिक संगठनों को सहायता दी जायेगी। कबीर की जन्म-स्थली को मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में शामिल किया जायेगा। अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने कार्यक्रम की रूपरेखा बताई। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सामाजिक समरसता का संदेश देने का काम राज्य सरकार ने किया है। प्रदेश में गरीब, शोषित और पीड़ितों के कल्याण के लिये कई योजनाएँ बनाई गईं हैं। संत श्री असंगनाथ जी ने कहा कि कबीर ने कहा था कि अपने मन को निर्मल बना लो तो भगवान आपको ढूँढेगा। विचार करना आ जाये तो हर दु:ख दूर हो जायेगा। जो लोगों को जोड़ता है वहीं जीतता है। उन्होंने कहा कि सिंहस्थ महाकुंभ के दौरान की गई व्यवस्थाओं की पूरे देश में सराहना हुई है। स्वागत भाषण मध्यप्रदेश हस्तशिल्प विकास निगम के अध्यक्ष श्री नारायण प्रसाद कबीरपंथी ने दिया।
कबीर सम्मान
कार्यक्रम में राष्ट्रपति श्री कोविंद ने कबीर सम्मान से तीन शब्द-शिल्पियों सर्वश्री रेवाप्रसाद द्विवेदी (बनारस), सुश्री प्रतिभा सत्पथी (भुवनेश्वर) और श्री के. शिवा रेड्डी (हैदराबाद) को सम्मानित किया। इन्हें पुरस्कारस्वरूप तीन लाख रूपये और सम्मान-पट्टिका भेंट की गयी। उन्होंने 'मध्यप्रदेश में कबीर' ग्रंथ का विमोचन भी किया। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविन्द को गोंड चित्रकला की कृति भेंट की। मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह ने देश की प्रथम महिला श्रीमती सविता कोविन्द को मध्यप्रदेश की मशहूर चंदेरी साड़ी भेंट की। कार्यक्रम में प्रसिद्ध गायक श्री प्रहलाद टिपाणिया और साथियों ने भजन प्रस्तुत किये। कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री श्री बाबूलाल गौर, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव, सांसद एवं भाजपा प्रदेशाध्यक्ष श्री नंदकुमार सिंह चौहान, संस्कृति राज्य मंत्री श्री सुरेन्द्र पटवा, सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग, सांसद सर्वश्री सत्यनारायण जटिया और चिंतामन मालवीय, श्री नारायण केशरी सहित बड़ी संख्या में कबीर पंथ के संत और अनुयायी तथा जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaराष्ट्रपति श्री कोविंद का प्रथम प्रदेश आगमन पर हुआ भव्य स्वागत


10 November 2017

राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद आज मध्यप्रदेश के प्रथम प्रवास पर भोपाल पहुँचे। राज्यपाल श्री ओमप्रकाश कोहली एवं मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने विमानतल पर राष्ट्रपति की अगवानी की तथा उन्हें पुष्प-गुच्छ भेंट कर स्वागत किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान ने राष्ट्रपति श्री कोविंद की धर्मपत्नी श्रीमती सविता कोविंद का पुष्प-गुच्छ भेंट कर स्वागत किया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष श्री सीतासरन शर्मा, जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, गृह मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह, राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह, महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस, स्कूल शिक्षा मंत्री कुँवर विजय शाह, ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन, तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री दीपक जोशी और सांसद श्री आलोक संजर तथा महापौर श्री आलोक शर्मा ने भी राष्ट्रपति का अभिवादन किया। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला, पुलिस उप महानिरीक्षक श्री एस.के. सिंह, कलेक्टर श्री सुदाम खाडे़ और बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक भी उपस्थित थे।


aaराष्ट्रपति श्री कोविंद द्वारा झलकारी बाई की प्रतिमा का अनावरण


10 November 2017

राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने गुरू तेगबहादुर काम्पलेक्स में रानी लक्ष्मी बाई की सहयोगी झलकारी बाई की प्रतिमा का अनावरण किया। इस अवसर पर राज्यपाल श्री ओम प्रकाश कोहली, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान, प्रथम महिला श्रीमती सविता कोविंद, नगरीय विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह एवं नगर निगम महापौर श्री आलोक शर्मा, श्रीमती साधना सिंह चौहान अन्य जन-प्रतिनिधि एवं वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। उल्लेखनीय है कि झलकारी बाई का जन्म गरीब कोरी परिवार में हुआ। वह साधारण सैनिक की तरह रानी लक्ष्मी बाई की सेना में शामिल हुई थीं। बाद में वह रानी लक्ष्मी बाई की विशेष सलाहकार बनीं। झलकारी बाई रानी लक्ष्मी बाई के महत्वपूर्ण निर्णयों में भागीदार होने के साथ स्वतंत्र्य समर में भी उनकी सहयोगी बनकर शहादत को प्राप्त हुईं।


aaमहिला सुरक्षा राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता : मुख्यमंत्री श्री चौहान


9 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में सुरक्षा का ऐसा वातावरण बनायें जिसमें महिलाएँ, बेटियाँ स्वतंत्र रूप से कहीं भी कभी भी आ-जा सकें। श्री चौहान ने कहा कि महिलाओं के प्रति विकृत मानसिकता सामाजिक बुराई है। इसके विरूद्ध समाज, सरकार और पुलिस मिलकर कार्य करें। जनजागृति अभियान चलाकर इस बुराई को जड़ से समाप्त किया जाये। यह निर्देश मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महिला अपराधों की रोकथाम के प्रयासों की समीक्षा के दौरान आज दिए। समीक्षा अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह और पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि महिला सुरक्षा सर्वोपरि है। प्रति सोमवार महिला अपराधों की उच्च स्तरीय समिति द्वारा समीक्षा की व्यवस्था की जाये। प्रत्येक जिले में वनस्टॉप सेंटर स्थापित हो। महिला सुरक्षा से संबंधित योजनाओं और रणनीति पर विचार कर सभी जरूरी कदम उठाये जायें। महिलाओं के लिए सेफ ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था हो। सार्वजनिक वाहनों में जीपीएस और कैमरे लगवायें जायें। महिलाओं के आवागमन की बहुतायत वाले संवेदनशील प्वाईंटों की पेट्रोलिंग और डॉयल 100 सेवाओं के उपयोग की प्रभावी रणनीति बने। आस-पास के क्षेत्रों में सी.सी.टी.व्ही. कैमरे लगवाये जायें, भरपूर प्रकाश की व्यवस्था हो ताकि महिलाओं और आम जनता का आत्मविश्वास मजबूत हो। श्री चौहान ने दुराचारी मानसिकता की समस्या से निपटने के लिए विशेषज्ञों के साथ विचार-विमर्श कर कार्य-योजना बनाकर संवेदनशीलता से कार्य करने की जरूरत बताई। गुड टच और बैड टच, दुराचार आदि की जानकारी विशेषज्ञों के माध्यम से बच्चों को दिए जाने की पहल की जाये। मुख्यमंत्री ने बच्चों और महिलाओं के आवागमन से संबंधित वाहनों के चालकों-परिचालकों की जानकारियाँ संधारित करने कन्या और महिला छात्रावासों, अनाथालयों, संप्रेषण गृहों आदि के प्रभारियों को महिलाओं की गरिमा के प्रति और अधिक संवेदनशील बनाने की जरूरत बताई। उन्होंने कहा कि महिला सुरक्षा व्यवस्था संबंधी जानकारियों को फ्लेक्स, पम्पलेट आदि के माध्यम से जगह-जगह प्रचारित किया जाये। महिला विद्यालयों और छात्रावासों के आसपास पुलिस रहवासियों के साथ जीवंत संवाद करें, उनका भरोसा बढ़ाए। महिला सुरक्षा के प्रति लोगों में प्रतिबद्धता का प्रदर्शन करे। मुख्यमंत्री ने कहा कि धार्मिक स्थल, महिला विद्यालय, छात्रावास और उनके आवागमन के स्थलों के निकट स्थित शराब की दुकानों की जानकारी संकलित की जाये ताकि उनको बंद करने की नियमानुसार कार्रवाई हो सके। नशे के व्यसन के विरूद्ध जनजागृति अभियान चले। उन्होंने कहा कि समाज में अच्छे तत्व बहुसंख्या में है। जरूरत उनको जोड़ने और समाज को जागृत करने की है। सामाजिक सम्मेलनों के आयोजनों के माध्यम से विकृत मानसिकता को निंयत्रित करने के लिये सामाजिक स्तर पर दबाव बढ़ाने की कोशिशें हो। प्रशासन और पुलिस जिले में महिला नेतृत्व को चिन्हित करे, उनके साथ सीधा और जीवंत संवाद कायम करे। मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाओं में सुरक्षा का स्थायी भाव पैदा करने के लिए वे स्वयं भी महिलाओं के साथ संवाद करेंगे। जिले के कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक और महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला स्तरीय अधिकारियों से वीडियो कान्फ्रेंस करेंगे। उन्होंने कहा पीड़ितों के प्रति पुलिस और चिकित्सा आदि विभागों का संवदेनशील व्यवहार सुनिश्चित हो। विगत दिनों घटित दुर्भाग्यपूर्ण घटना के अनुसंधान एवं अभियोजन की कार्यवाही समय पर हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं में पुलिस प्रभावी कार्रवाई का उदाहरण प्रस्तुत करे, समाज में सकारात्मक संदेश दे। महिला उत्पीड़न से संबंधित प्रावधानों का प्रसार अभियान, सोशल और इलेक्ट्रानिक मीडिया में चले। महिला सहायता ऐप और हेल्पलाईन का व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार हो। बैठक में मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक बर्णवाल, श्री एस.के. मिश्र, अपर पुलिस महानिदेशक इंटेलीजेंस श्री राजीव टंडन एवं महिला अपराध श्रीमती अरूणा मोहन राव, आयुक्त जनसंपर्क श्री अनुपम राजन, आयुक्त नगरीय विकास एवं पर्यावरण श्री विवेक अग्रवाल, आयुक्त महिला एवं बाल विकास श्रीमती जयश्री कियावत मुख्यमंत्री के ओ.एस.डी. श्री आदर्श कटियार, गृह सचिव श्री विवेक शर्मा, महानिरीक्षक पुलिस श्री जयदीप प्रसाद, उपमहानिरीक्षक पुलिस श्री एस.के. सिंह उपस्थित थे।


aaराज्य मंत्री श्री पाठक का दौरा कार्यक्रम


9 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में सुरक्षा का ऐसा वातावरण बनायें जिसमें महिलाएँ, बेटियाँ स्वतंत्र रूप से कहीं भी कभी भी आ-जा सकें। श्री चौहान ने कहा कि महिलाओं के प्रति विकृत मानसिकता सामाजिक बुराई है। इसके विरूद्ध समाज, सरकार और पुलिस मिलकर कार्य करें। जनजागृति अभियान चलाकर इस बुराई को जड़ से समाप्त किया जाये। यह निर्देश मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महिला अपराधों की रोकथाम के प्रयासों की समीक्षा के दौरान आज दिए। समीक्षा अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह और पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि महिला सुरक्षा सर्वोपरि है। प्रति सोमवार महिला अपराधों की उच्च स्तरीय समिति द्वारा समीक्षा की व्यवस्था की जाये। प्रत्येक जिले में वनस्टॉप सेंटर स्थापित हो। महिला सुरक्षा से संबंधित योजनाओं और रणनीति पर विचार कर सभी जरूरी कदम उठाये जायें। महिलाओं के लिए सेफ ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था हो। सार्वजनिक वाहनों में जीपीएस और कैमरे लगवायें जायें। महिलाओं के आवागमन की बहुतायत वाले संवेदनशील प्वाईंटों की पेट्रोलिंग और डॉयल 100 सेवाओं के उपयोग की प्रभावी रणनीति बने। आस-पास के क्षेत्रों में सी.सी.टी.व्ही. कैमरे लगवाये जायें, भरपूर प्रकाश की व्यवस्था हो ताकि महिलाओं और आम जनता का आत्मविश्वास मजबूत हो। श्री चौहान ने दुराचारी मानसिकता की समस्या से निपटने के लिए विशेषज्ञों के साथ विचार-विमर्श कर कार्य-योजना बनाकर संवेदनशीलता से कार्य करने की जरूरत बताई। गुड टच और बैड टच, दुराचार आदि की जानकारी विशेषज्ञों के माध्यम से बच्चों को दिए जाने की पहल की जाये। मुख्यमंत्री ने बच्चों और महिलाओं के आवागमन से संबंधित वाहनों के चालकों-परिचालकों की जानकारियाँ संधारित करने कन्या और महिला छात्रावासों, अनाथालयों, संप्रेषण गृहों आदि के प्रभारियों को महिलाओं की गरिमा के प्रति और अधिक संवेदनशील बनाने की जरूरत बताई। उन्होंने कहा कि महिला सुरक्षा व्यवस्था संबंधी जानकारियों को फ्लेक्स, पम्पलेट आदि के माध्यम से जगह-जगह प्रचारित किया जाये। महिला विद्यालयों और छात्रावासों के आसपास पुलिस रहवासियों के साथ जीवंत संवाद करें, उनका भरोसा बढ़ाए। महिला सुरक्षा के प्रति लोगों में प्रतिबद्धता का प्रदर्शन करे। मुख्यमंत्री ने कहा कि धार्मिक स्थल, महिला विद्यालय, छात्रावास और उनके आवागमन के स्थलों के निकट स्थित शराब की दुकानों की जानकारी संकलित की जाये ताकि उनको बंद करने की नियमानुसार कार्रवाई हो सके। नशे के व्यसन के विरूद्ध जनजागृति अभियान चले। उन्होंने कहा कि समाज में अच्छे तत्व बहुसंख्या में है। जरूरत उनको जोड़ने और समाज को जागृत करने की है। सामाजिक सम्मेलनों के आयोजनों के माध्यम से विकृत मानसिकता को निंयत्रित करने के लिये सामाजिक स्तर पर दबाव बढ़ाने की कोशिशें हो। प्रशासन और पुलिस जिले में महिला नेतृत्व को चिन्हित करे, उनके साथ सीधा और जीवंत संवाद कायम करे। मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाओं में सुरक्षा का स्थायी भाव पैदा करने के लिए वे स्वयं भी महिलाओं के साथ संवाद करेंगे। जिले के कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक और महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला स्तरीय अधिकारियों से वीडियो कान्फ्रेंस करेंगे। उन्होंने कहा पीड़ितों के प्रति पुलिस और चिकित्सा आदि विभागों का संवदेनशील व्यवहार सुनिश्चित हो। विगत दिनों घटित दुर्भाग्यपूर्ण घटना के अनुसंधान एवं अभियोजन की कार्यवाही समय पर हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं में पुलिस प्रभावी कार्रवाई का उदाहरण प्रस्तुत करे, समाज में सकारात्मक संदेश दे। महिला उत्पीड़न से संबंधित प्रावधानों का प्रसार अभियान, सोशल और इलेक्ट्रानिक मीडिया में चले। महिला सहायता ऐप और हेल्पलाईन का व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार हो। बैठक में मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक बर्णवाल, श्री एस.के. मिश्र, अपर पुलिस महानिदेशक इंटेलीजेंस श्री राजीव टंडन एवं महिला अपराध श्रीमती अरूणा मोहन राव, आयुक्त जनसंपर्क श्री अनुपम राजन, आयुक्त नगरीय विकास एवं पर्यावरण श्री विवेक अग्रवाल, आयुक्त महिला एवं बाल विकास श्रीमती जयश्री कियावत मुख्यमंत्री के ओ.एस.डी. श्री आदर्श कटियार, गृह सचिव श्री विवेक शर्मा, महानिरीक्षक पुलिस श्री जयदीप प्रसाद, उपमहानिरीक्षक पुलिस श्री एस.के. सिंह उपस्थित थे।


aaजिन्हे नहीं मिली खसरा की नि:शुल्क नकल- सी.एम. हेल्पलाइन में करें शिकायत


7 November 2017

प्रति वर्ष 15 अगस्त से 2 अक्टूबर के बीच खसरा-खतौनी की नकल नि:शुल्क बांटी जाएंगी। इस वर्ष जिन्हें नि:शुल्क नकल नहीं मिली, वे सी.एम. हेल्पलाइन में शिकायत दर्ज करा सकते हैं। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने यह बात विभागीय योजनाओं की समीक्षा के दौरान की। श्री गुप्ता ने कहा कि तहसील और पंचायतों में बोर्ड लगाएँ कि जिनको नकल नहीं मिली वे यहाँ से प्राप्त करें।
ज्वाइन नहीं करने वाले तहसीलदार होंगे निलंबित
श्री गुप्ता ने कहा कि मोबाइल एप के माध्यम से भी खसरा-खतौनी की नकल उपलब्ध करवाने की व्यवस्था करें। राजस्व से संबंधित नियमों-प्रक्रियाओं को औचित्यपूर्ण और सरल बनाएँ। राजस्व मंत्री ने कहा कि जिन स्थानांतरित तहसीलदारों ने अभी तक नवीन पद-स्थापना स्थल में ज्वाइनिंग नहीं दी है, उन्हें तत्काल निलंबित करें। उन्होंने कहा कि प्रमुख सचिव द्वारा प्रति सप्ताह की जाने वाली समीक्षा में विभागीय जांच और कोर्ट केसों की भी शामिल करें। प्रमुख सचिव राजस्व श्री अरूण पाण्डेय ने बताया कि राजस्व विभाग के कार्यों में सुधार के लिए मुख्य सचिव द्वारा भोपाल, ग्वालियर, चंबल और शहडोल संभाग की समीक्षा की जा चुकी है। कोर्ट में लंबित प्रकरणों की समीक्षा के लिए केस मॉनीटरिंग एण्ड ट्रेकिंग सिस्टम (सीएमटीएस) बनाया गया है। इसमें 5164 प्रकरणों की मेपिंग हो चुकी है। विभाग ने विधानसभा प्रश्नों का जवाब देने के लिये ई-उत्तर एप्लीकेशन बनाया है। राजस्व विभाग ई-ऑफिस के कांसेप्ट पर कार्य कर रहा है। राजस्व विभाग में केडर पुनर्गठन किया जा रहा है। भू-राजस्व संहिता में संशोधन का प्रस्ताव तैयार करने के लिए एक समिति गठित की गयी है।
पटवारियों को मिलेंगे स्मार्ट फोन
पटवारियों को स्मार्ट फोन के लिए 7300 रूपये दिये जायेंगे। पटवारी स्वयं फोन खरीदकर बिल प्रस्तुत करेंगे। निर्धारित राशि उनके बैंक खाते में ट्रांसफर कर दी जायेगी।
ई.टी.एस. मशीनों से होगा सीमांकन
प्रदेश में 100 प्रतिशत सीमांकन ई.टी.एस. मशीनों से होगा। फसल गिरदावरी के लिए किसानों द्वारा बोई गयी फसलों की जानकारी देने के लिए एप बनाया जायेगा। पटवारियों द्वारा किसानों द्वारा दी गयी जानकारी का सत्यापन निर्धारित समय में किया जायेगा। जानकारी में कोई परिवर्तन होने पर किसानों को एस.एम.एस. से सूचना दी जायेगी। बैठक में राजस्व सचिव श्री हरिरंजन राव और श्री पी. नरहरि, प्रमुख राजस्व आयुक्त श्री रजनीश श्रीवास्तव तथा एडिशनल कमिश्नर भू-अभिलेख श्री एम. सेलवेंद्रम उपस्थित थे।


aaस्मार्ट सिटी से शहरवासियों का जीवन बनेगा सर्व-सुविधायुक्त : नगरीय विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह


7 November 2017

स्मार्ट सिटी के निर्माण का मूल उद्देश्य शहरवासियों के जीवन को सुलभ, सुगम और सुविधायुक्त बनाना है। स्मार्ट सिटी की योजना एक मिशन है। इसके तहत मध्यप्रदेश में किए गए कार्य अन्य शहरों के लिए मिसाल बनेंगे। श्रीमती सिंह आज यहाँ होटल कोर्टयाड मैरियट में दो दिवसीय र्स्माट सिटी एक्सपोज़र कम ट्रेनिंग प्रोग्राम को संबोधित कर रही थीं। श्रीमती सिंह ने आशा व्यक्त की कि दो दिवसीय ट्रेनिंग से स्मार्ट‍सिटी के मिशन को नई दिशा मिलेगी। श्रीमती माया सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की महत्वाकांक्षी योजना स्मार्ट सिटी में भारत के 100 शहर शामिल किए गए। देश में मध्यप्रदेश ही एक मात्र राज्य है जहाँ से सर्वाधिक 7 शहर भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर, उज्जैन, सागर और सतना को इस योजना में शामिल किया गया। नगरीय विकास मंत्री ने कहा कि स्मार्ट सिटी की अवधारणा है कि नागरिकों को बुनियादी सुविधा के साथ-साथ उच्च स्तरीय गुणवत्ता का स्वच्छ और टिकाऊ पर्यावरण उपलब्ध हो। उन्होंने कहा कि इसके लिए नागरिकों के साथ समन्वय स्थापित कर उन्हें भी प्रोजेक्ट की बारीकियों से अवगत कराना जरूरी है। स्मार्ट सिटी के संचालक श्री सजीश कुमार ने कहा कि बेहतर परिणामों के लिए शहरी स्तर पर नेतृत्व तय किए गए हैं। अन्य लोगों द्वारा किए गए उत्कृष्ट कार्य को भी अपनाने का प्रयास आवश्यक है। आयुक्त, नगरीय विकास श्री विवेक अग्रवाल ने स्मार्ट सिटी के अन्तर्गत किए गए विभिन्न कार्यों की जानकारी दी। दो दिवसीय कार्यशाला के पहले दिल भोपाल में पब्लिक बाईक शेयरिंग, स्मार्ट पोल और इंटेलिजेंट स्मार्ट लाइट, साइकिल ट्रेक तथा बायोमिथेन प्लांट के बारे में जानकारी दी जाएगी। दूसरे दिन 8 नवम्बर को इंदौर एवं जबलपुर स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के प्रजेंटेशन के अलावा हेरिटेज घोषित सदर मंजिल, वोट क्लब तथा जनजाति संग्रहालय का जायजा लिया जाएगा।


aaराज्य मंत्री श्री जोशी ने किया 63वें नेशनल स्कूल गेम्स का शुभारंभ


7 November 2017

तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एंव श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने ध्वाजारोहण कर 63वीं नेशनल स्कूल गेम्स का शुभारंभ किया। गेम्स में एथलेटिक्स, हूप क्वाण्डों बालक-बालिका, स्काय मार्शल आर्ट शामिल हैं। आयोजन 12 नवम्बर तक होंगे। प्रतियोगिता में 35 राज्य-केन्द्र शासित प्रदेशों के स्कूलों के 2000 विद्यार्थी शामिल हो रहे हैं। स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने कहा कि प्रदेश सरकार खेलों को प्रोत्साहित करने और खेल प्रतिभाओं के विकास के लिए कृत संकल्पित है। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश का राष्ट्रीय स्कूल गेम्स में चौथा स्थान है। श्री जोशी ने बताया कि भोपाल को हॉकी की नर्सरी रूप में जाना जाता है। इस मौके पर सांसद श्री आलोक संजर ने भी विचार व्यक्त किये। संचालक लोक शिक्षण श्रीमती अंजु पवन भदौरिया ने आयोजन के संबंध में जानकारी दी। छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये। इस दौरान स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया उपाध्यक्ष श्री आलोक खरे सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


aaमध्यप्रदेश की ऑटोमेटेड पब्लिक बाइक शेयरिंग और हब एण्ड स्पोक मॉडल को मिला विशेष राष्ट्रीय पुरस्कार


6 November 2017

मध्यप्रदेश को शहरी परिवहन में सर्वोत्तम अभ्यास परियोजना 'पब्किल बाइक शेयरिंग सिस्टम'' तथा क्लस्टर बेस्ड 'हब एण्ड स्पोक'' अर्बन ट्रांसपोर्ट मॉडल के विशेष राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। तेलंगाना के आई.टी. एवं नगरीय विकास मंत्री श्री के.टी. रामाराव ने मध्यप्रदेश की नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह को आज हैदराबाद में दसवें अर्बन मोबिलिटी इण्डिया कॉन्फ्रेंस में ये विशेष राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किये। इस अवसर पर केन्द्रीय आवास एवं शहरी कार्य सचिव श्री दुर्गाशंकर मिश्रा, मध्यप्रदेश के नगरीय प्रशासन एवं विकास आयुक्त श्री विवेक अग्रवाल और भोपाल स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड की कार्यपालक निदेशक सुश्री प्रियंका दास उपस्थित थे। उल्लेखनीय है कि भोपाल स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने 25 जून 2017 को भोपाल में पब्लिक बाइक शेयरिंग योजना की शुरूआत की थी। योजना में शहर के अलग-अलग स्थानों पर 50 स्टेशन बनाए गए हैं जिनमें 500 साइकिलें हैं। भोपाल स्मार्ट बाइक शेयरिंग देश का पहला ऑटोमेटेड सिस्टम है जो पूरी तरह कैशलेस है। इसके स्टेशन मानव-रहित हैं, इन्हें केन्द्रीय नियंत्रण-कक्ष से जोड़ा गया है। स्टेशनों पर साइकिलें सात दिन 24 घंटे उपलब्ध रहती हैं। योजना को बीआरटीएस से जोड़ा गया है। बीआरटी कॉरीडोर के बस स्टॉप के पास साइकिल स्टेशन बनाए गए हैं, जिससे लोक परिवहन को बढ़ावा मिल सके। पीबीएस योजना के तहत साइकिल चलाने के लिए रजिस्ट्रेशन फीस 500 रुपये निर्धारित है, जो रजिस्ट्रेशन रद्द कराने पर वापस हो जाती है। इसमें एक महीने, तीन महीने और एक साल की मेम्बरशिप का प्रावधान है। एक माह की मेम्बरशिप के लिए 149 रुपये, तीन महीने की 299 और एक साल के लिए 999 रुपये मेम्बरशिप फीस रखी गई है। मेम्बर के लिए प्रत्येक आधे घंटे की साइकिल राइड फ्री है। नॉन मेम्बर के लिए आधे घंटे की साइकिल चलाने का शुल्क 10 रुपये है।
अर्बन ट्रांसपोर्ट मॉडल
अमृत योजना के तहत लोक परिवहन की बस सेवा के लिए क्लस्टर आधारित हब और स्पोक मॉडल बनाया गया है। इसके तहत शहरों में क्लस्टर बनाकर बस सेवा शुरू की गई है। बसों का संचालन वायबिलिटी गैप फंडिंग (वीजीएफ) के तहत किया जा रहा है। वीजीएफ 40 प्रतिशत तय किया गया है। इससे बसों की संख्या और कनेक्टिविटी बढ़ी है। अलग-अलग शहरों में एसपीवी बनाकर बस सेवा शुरू की गई है और बड़े शहरों के आसपास के छोटे शहरों को भी सेवा से जोड़ा गया है। इससे लोक परिवहन व्यवस्थित हो गया है और अंतिम छोर तक बस सेवा शुरू होने से लोगों को राहत मिली है।


aaमंत्रालय परिसर में किसी भी प्रकार का धरना प्रदर्शन निषेध


6 November 2017

सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने कहा है कि मंत्रालय परिसर में किसी भी प्रकार का धरना प्रदर्शन आंदोलन निषेध है। इस निषेधात्मक आदेश का कड़ाई से पालन होना चाहिये। इसके लिये सभी संगठनों को पत्र के माध्यम से सूचित किया जाये कि गरिमा के विरुद्ध कार्य नहीं करें। श्री आर्य आज मंत्रालय में सामान्य प्रशासन विभाग की गतिविधियों की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में अपर मुख्य सचिव श्री प्रभांशु कमल भी उपस्थित थे। राज्य मंत्री श्री आर्य ने विशेष भर्ती अभियान के जरिये जल्द से जल्द बैकलाग पदों पर भर्ती करने के निर्देश दिये। समीक्षा के दौरान बताया गया कि 8 नवम्बर को इस संबंध में अपर मुख्य सचिव के समक्ष सभी विभाग अपने-अपने विभाग की जानकारी देगें। बैठक में बताया गया कि मीसाबंदियों को आवेदन प्रस्तुत करने के लिये अंतिम तिथि 30 नवम्बर निर्धारित की गई है। श्री लाल सिंह आर्य ने कहा कि न्यायालयीन प्रकरणों में शीघ्र जवाब पेश किये जायें। उन्होंने कहा कि जाति प्रमाण-पत्र में लंबित आवेदनों के त्वरित निराकरण के लिये संबंधित जिले को पत्र लिखें। बैठक में बताया गया कि अभी तक 1 करोड़ 25 लाख 91 हजार 63 जाति प्रमाण-पत्र बनायें गये हैं। श्री आर्य ने मुख्य तकनीकी परीक्षक सर्तकता संगठन के सुदृढ़ीकरण के लिये कारगर उपाय करने के निर्देश दिये। उन्होंने मंत्रालय की साफ-सफाई व्यवस्था के प्रभावी संचालन के लिये एक दल बनाकर नियमित निरीक्षण कराने के निर्देश दिये। उन्होंने अभिलेखागार में विभागों के अभिलेखों के संरक्षण और विनिष्टीकरण के संबंध में भी चर्चा की। बैठक में विभागीय जाँच, परामर्शदात्री समिति, अवमानना के प्रकरण, फाइल ट्रेकिंग सिस्टम, अनुकम्पा नियुक्ति, विधानसभा आश्वासन, प्रश्नोत्तर आदि पर भी चर्चा की गई। श्री लाल सिंह आर्य ने सीएम हेल्पलाइन के 5 प्रकरणों में हितग्राही से फोन पर बात की इसमें सागर के केसली ब्लाक निवासी श्री प्रदीप विश्वकर्मा, सीधी के चुरहट निवासी श्री रघुवंश पटेल और उज्जैन के श्री नन्दकिशोर चाववत ने बताया कि जाति प्रमाण-पत्र बनवाने के संबंध में उनके द्वारा आवेदन किया गया था। इसका निराकरण हो गया है और वे प्रक्रिया से खुश हैं। जबलपुर की पिसन हरी की मंढिया निवासी श्रीमती जूली बेगम ने बताया कि उनका गरीबी रेखा का कार्ड आवेदन के तुरंत बाद बन गया है। पन्ना निवासी श्री धीरेन्द्र यादव को अभी तक जाति प्रमाण-पत्र प्राप्त नहीं होने पर मंत्री श्री आर्य ने संबंधित को निर्देशित करने को कहा।


aaराष्ट्रपति श्री कोविन्द के कार्यक्रमों की तैयारियों की समीक्षा


6 November 2017

मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह ने राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविन्द के 10 एवं 11 नवंबर को भोपाल एवं अनूपपुर में प्रस्तावित कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा की। मुख्य सचिव ने भोपाल के लालपरेड मैदान में सदगुरु कबीर महोत्सव कार्यक्रम, जी.टी.बी. कॉम्पलेक्स तात्याटोपे नगर में रानी झलकारी बाई प्रतिमा के अनावरण, आर. सी. व्ही. पी. नरोन्हा प्रशासन अकादमी में राष्ट्रीय विज्ञान, गणित तथा पर्यावरण प्रदर्शनी के कार्यक्रम तथा अनूपपुर जिले के अमरकंटक में नर्मदा मंदिर दर्शन तथा इंदिरा गांधी नेशनल ट्रायबल यूनिवर्सिटी में प्रस्तावित कार्यक्रमों में सुरक्षा व्यवस्था, चिकित्सा, पार्किंग, पेयजल, आदि की समुचित व्यवस्था के संबंध में विस्तृत निर्देश दिये है। बैठक में अपर मुख्य सचिव गृह श्री के. के. सिंह , अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन श्री प्रभांशु कमल, प्रमुख सचिव जनसंपर्क श्री एस. के. मिश्रा, प्रमुख सचिव मुख्य मंत्री श्री अशोक वर्णवाल, पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला , कमिश्नर भोपाल, कलेक्टर भोपाल/अनूपपुर तथा पुलिस, आर्मी, आकाशवाणी, इंडियन ऑयल कार्पोरेशन , बी. एस. एन. एल. के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


aaसी.एम. हेल्पलाइन की शिकायत में गलत टीप अंकित करने पर प्रबंधक के विरुद्ध कार्यवाही


6 November 2017

मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी ने सी.एम. हेल्पलाइन में दर्ज एक शिकायत में गलत टीप अंकित करने पर भोपाल जिले के मिसरोद स्थित प्रबंधक के विरुद्ध कार्यवाही की है। प्रबंधक के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए आरोप-पत्र जारी किया गया है। निर्मल स्टेट मिसरोद निवासी श्री सुमित चौधरी ने सी.एम. हेल्पलाइन में गत 21 सितम्बर को आवेदक श्री संतोष चौधरी का विद्युत मीटर खराब होने की शिकायत दर्ज की थी। शिकायत के निराकरण में एल-1 से एल-3 स्तर तक के अधिकारियों ने गलत टीप दी थी कि शिकायतकर्ता का उक्त मीटर बदल दिया गया है। टीप अंकित किये जाने पर शिकायत को 7 अक्टूबर को निराकृत कर बंद कर दिया गया था। मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव द्वारा जब सीधे शिकायतकर्ता से दूरभाष पर चर्चा की गई। शिकायतकर्ता द्वारा उन्हें बताया गया कि उनका मीटर आज दिनांक तक नहीं बदला गया। मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव द्वारा यह तथ्य ऊर्जा विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के ध्यान में लाये जाने पर शिकायतकर्ता के निवास का मीटर न केवल बदल दिया गया बल्कि संबंधित कर्मचारी के विरुद्ध त्वरित कार्यवाही कर आरोप-पत्र जारी किया गया है।


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने जे.पी. और काटजू हॉस्पिटल में सुनी मरीजों की समस्याएँ


6 November 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने काटजू और जे.पी. हॉस्पिटल में मरीजों की समस्याएँ सुनीं। श्री गुप्ता ने मरीजों की शिकायत पर वार्ड और शौचालयों में साफ-सफाई और पानी की पर्याप्त व्यवस्था करने के निर्देश दिए। श्री गुप्ता ने कहा कि जे.पी. हॉस्पिटल के गेट पर कचरा नहीं जलवाएँ। प्रतिदिन कचरा उठवायें। उन्होंने कहा कि सफाई कामगरों की संख्या बढ़ायें। मरीजों ने जे.पी. हस्पिटल में न्यूरोलॉजी और चर्म रोग विशेषज्ञ की पदस्थापना की मांग की। श्री गुप्ता ने कहा कि इस संबंध में आवश्यक कार्यवाही करेंगे।


aaमुख्यमंत्री निवास में 12 नवम्बर को होगा प्रकाश पर्व


4 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आज गुरू ग्रंथ साहब की हजूरी में मत्था टेकने और आशीर्वाद लेने हमीदिया रोड स्थित गुरूनानकसर गुरूद्वारा पहुँचे। प्रदेशवासियों के कल्याण और प्रदेश के विकास के लिए गुरूश्री के चरणों में प्रार्थना की। उनके साथ महापौर श्री आलोक शर्मा भी मौजूद थे। श्री चौहान ने सिक्ख समुदाय को मुख्यमंत्री निवास में प्रकाश पर्व में शामिल होने का आमंत्रण दिया। उन्होंने बताया कि आगामी 12 नवम्बर को सायं 6.30 बजे मुख्यमंत्री निवास में प्रकाश पर्व का आयोजन किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गुरूनानक जी अंधकार में प्रकाश के रूप में पधारे थे। 'एक नूर से सब जग उपजा है' भले ही इबादत और उपासना के तरीके अलग-अलग हों। सब एक है। यह बात यदि सब समझ लें तो सारे झगड़े-विवाद खत्म हो जायेंगे। उन्होंने कहा कि गुरू गोविंद साहब का 350वाँ वर्ष मनाया जा रहा हैं। इस अवसर पर तीर्थ दर्शन योजना अंतर्गत शीघ्र ही गुरूद्वारा पटनासाहब के लिए एक ट्रेन चलाई जाएगी। उन्होंने कहा कि गुरू गोविंद सिंह महान गुरू और अदभुत योद्धा थे। उन्होंने अन्याय के खिलाफ लड़ाई लड़ी। उनका त्याग, बलिदान से भरा अदभुत इतिहास है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता के सेवक के रूप में सबके कल्याण के लिए निरंतर प्रयासरत हैं। श्री चौहान ने ईश्वर से प्रार्थना की कि सबको सही राह दिखाए, सदबुद्धि और संमार्ग पर चलने की प्रेरणा दे। सब बेहतर से बेहतर कार्य करें। सब निरोगी हो, सबका मंगल और कल्याण हो। मुख्यमंत्री को सिक्ख संगत की ओर से ज्ञानी श्री दिलीप सिंह ने शॉल, सरोपा और कृपाण भेंट किया। उन्होंने कहा कि कोई भी मजहब आपस में बैर रखना नहीं सिखाता है। अमृतसर अकालतख्त के जत्थेदार प्रो. गुरूबचन सिंह ने कहा कि प्रथम गुरू नानक देव किसी एक के नहीं है। वह सबके हैं, सबके दिलों में उनका सम्मान है। इस अवसर पर रमेश शर्मा गुट्टू भईया, श्री विष्णु राठौर सहित बढ़ी संख्या में सिक्ख समुदाय के स्त्री पुरूष मौजूद थे


aaऐतिहासिक बुरहानपुर ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ हस्ताक्षर महा-अभियान में रचा इतिहास


4 November 2017

महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस की पहल पर 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ' महा-अभियान अंतर्गत 3 नवम्बर को संपूर्ण बुरहानपुर जिले में आयोजित हस्ताक्षर महा-अभियान में जन-जन ने भाग लेकर एक नया इतिहास रच दिया। अभियान में महिलाएं, पुरुष, बच्चे, बुजुर्गों, युवक-युवतियों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' के लिए पहल करने का संदेश दिया। अभियान में 5 लाख हस्ताक्षर का लक्ष्य था, किन्तु बुरहानपुर में ऐतिहासिक उत्साह का प्रदर्शन करते हुए 6 लाख 53 हजार नागरिकों ने हस्ताक्षर किए जो कि निर्धारित लक्ष्य से लगभग डेढ़ लाख अधिक है। महा-अभियान को लेकर पूरे जिले में सकारात्मक वातावरण पहले ही निर्मित हो चुका था। बेटियों-महिलाओं को पुरुषों की तुलना में कमतर बताने की सोच को बदलने, महिला-पुरुष समानता पर जिले में नुक्कड़ नाटक, निबंध, वाद-विवाद प्रतियोगिता, पोस्टर निर्माण, रैलियाँ, चित्रकला के माध्यम से लोगों को जोड़ा गया। शाला स्तर पर विशेष पैरेन्ट मीट आयोजित की गई। परिणामस्वरूप शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के लिए बनाए गए केन्द्रों पर सुबह से ही भीड़ देखने को मिली। संपूर्ण जिले में उत्सव जैसा वातावरण रहा, सभी केन्द्रों पर लाउडस्पीकर के माध्यम से 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ' विषय पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी, मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान एवं महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस के संदेशों के साथ बेटियों पर आधारित गीत भी प्रसारित किए जाते रहे। मंत्री श्रीमती चिटनिस ने बताया बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ महा-अभियान के तहत नागरिकों में जागरूकता लाने और बेटियों के प्रति नकारात्मक मनोवृत्ति बदलने के लिये विभिन्न स्थानों पर एक साथ हस्ताक्षर अभियान संचालित किया गया। यह महा-अभियान बेटी को दुनिया में आने देने, बेटी को पढ़ाने-बढ़ाने के लिये सही वातावरण देने के प्रति जन-सामान्य को संवेदनशील बनाने और समाज को इस दिशा में एकमत बनाने के लिये यह अभियान सबसे पहले बुरहानपुर में आरंभ किया गया। अभियान के अंतर्गत प्राप्त जन-सहभाहिगता के दस्तावेज राज्य शासन द्वारा भारत सरकार को सौंपे जाएंगे। महा-अभियान में नगरीय तथा ग्रामीण क्षेत्र में अलग-अलग माध्यम से बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के प्रति लोगों ने अपनी भावनाएं व्यक्त की हैं। शाहपुर क्षेत्र में कलात्मक रंगोली के माध्यम से बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश दिया गया। श्रीमती अर्चना चिटनिस ने इंदौर-इच्छापुर हाईवे, सिन्धी बस्ती, शनवारा सिगनल, कमल चौक, गाँधी चौक, इकबाल चौक, लालबाग और शाहपुर के विभिन्न वार्डों में जन-सामान्य को अभियान से जोड़ते हुए हस्ताक्षर करवाये। महा-अभियान में बुरहानपुर जिले के सार्वजनिक स्थानों, कृषि उपज मंडी, रेलवे स्टेशन, बस स्टेण्ड, मिल, स्कूलों, कॉलेजों, आँगनवाड़ी केन्द्रों, चिकित्सालयों और शासकीय कार्यालयों सहित अनेक स्थानों पर लगे स्टालों पर नागरिकों ने हस्ताक्षर किये। अभियान में जन-प्रतिनिधियों, स्वयंसेवी संगठनों, राष्ट्रीय सेवा योजना, एनसीसी, शासकीय अधिकारी व कर्मचारियों ने सहभागिता की। एक दिन में एक समय पर लगभग एक हजार से अधिक स्थानों पर अभियान के अन्तर्गत जन-सामान्य द्वारा संकल्प पत्र पर हस्ताक्षर किये गये।


स्मार्ट रोड से प्रभावित लोगों को मिलेंगे नये मकान

4 November 2017
राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा है कि स्मार्ट रोड बनाने के लिए जिनके मकान हटाये जायेंगे उन्हें प्रधान मंत्री आवास योजना में मकान दिये जायेंगे। यह मकान बाणगंगा में ही बनेंगे। वर्तमान में इन्हें अस्थायी आवास दिये जा रहे हैं। श्री गुप्ता नगर निगम के अधिकारियों के साथ चर्चा कर रहे थे। श्री गुप्ता ने कहा कि स्मार्ट रोड के लिए यथासंभव वर्तमान रोड के बीच से दोनों तरफ 50-50 फीट जमीन लें। उन्होंने कहा कि प्रयास करें कि व्यवस्थापन कम से कम हो। स्मार्ट रोड पॉलीटेक्निक चौराहा से भारत माता चौराहा तक बनायी जा रही है। स्मार्ट सिटी के सीईओ श्री चंद्रमौली शुक्ला ने योजना की पूरी जानकारी दी।

aaफ्रेण्ड्स ऑफ एमपी सम्मेलन इंदौर में 3-4 जनवरी को होगा


3 November 2017

इंदौर में आगामी 3 और 4 जनवरी को फ्रेण्ड्स ऑफ एमपी सम्मेलन आयोजित किया जायेगा। इंदौर शहर इस सम्मेलन की मेजबानी करेगा। न्यूयार्क यूनिवर्सिटी के टण्डन स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग के सहयोग से इंदौर में स्मार्ट सिटी कम्पनी द्वारा इनक्युबेशन सेंटर बनाया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ अमेरिका प्रवास के पश्चात् आयोजित समीक्षा बैठक में इस संबंध में निर्देश दिये। बैठक में मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में कहा कि फ्रेण्ड्स ऑफ एमपी सम्मेलन के तहत प्रदेश से जुड़े प्रवासी भारतीय मध्यप्रदेश के विकास में सहयोग करना चाहते हैं। यह सम्मेलन मध्यप्रदेश से लगाव रखने वाले सभी प्रवासियों के लिये एक प्लेटफार्म होगा। इस सम्मेलन को इंदौर शहर आयोजित करेगा और इंदौर संभागायुक्त इसका समन्वय करेंगे। इस सम्मेलन में विशिष्ट उपलब्धियाँ हासिल करने वाले मध्यप्रदेश के प्रवासियों को सम्मानित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश से जुड़े करीब 400 चिकित्सक मध्यप्रदेश में गंभीर रोगों के उपचार के ऑपरेशन के लिये सहयोग करना चाहते हैं। इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग उनसे सम्पर्क करे। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि टण्डन स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग के साथ प्रदेश में शुरू किये जाने वाले इनक्यूबेशन सेंटर के लिये एम.ओ.यू. किया जाये। कैंसर के उपचार क्षेत्र की प्रमुख अमेरिकी कम्पनी वेरियोन मेडिकल सिस्टम से किफायती और आधुनिक उपचार की सुविधा के लिये स्वास्थ्य विभाग प्रस्ताव तैयार करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि डाटापैक सर्विसेस को इंदौर में सेवा केन्द्र शुरू करने के लिये जमीन उपलब्ध कराई जाये। बायो एनर्जी को कृषि उपज मण्डियों के साथ मिलकर कृषि उत्पादन के संग्रहण के कार्य के प्रस्ताव पर कार्रवाई करें। एटोमिक लाँच द्वारा नई तकनीक से बिना नेटवर्क के मोबाईल फोन के माध्यम से किसानों को खेती से संबंधित समस्याओं के लिये टूल विकसित करने के प्रस्ताव को पॉयलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू किया जाये। इसे कम्पनी अपनी सीएसआर फण्ड से शुरू करेगी। केम्ब्रिज एज्यूकेशन द्वारा स्वदेश में विश्व स्तरीय स्किल सेंटर शुरू करने के प्रस्ताव पर उनसे सम्पर्क किया जाये। थैलीसिमिया के उपचार के लिये इंदौर मेडिकल कॉलेज में बोनमेरो ट्रांसप्लांट के लिये कोलंबिया यूनिवर्सिटी के चिकित्सकों से किये गये एम.ओ.यू. की समीक्षा करते हुये उन्होंने इसमें शीघ्र कार्रवाई करने के निर्देश दिये। बैठक में बताया गया कि प्रदेश में पहले से चल रहे 10 इनक्यूबेशन सेंटर के संचालन में भी टण्डन स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग का सहयोग लिया जायेगा। कैंसर के उपचार के लिये वेरियोन मेडिकल सिस्टम के लिये पीपीपी मॉडल पर टेण्डर बुलाये जायेंगे। एक्सफेक्ट द्वारा आदतन अपराधियों की ट्रेकिंग के लिये विकसित किये गये एप्प के उपयोग के संबंध में पुलिस विभाग द्वारा कार्रवाई की जायेगी। न्यूयार्क होटल एसोसिएशन के प्रतिनिधि मंडल के प्रदेश दौरे के संबंध में पर्यटन विभाग द्वारा कार्रवाई की जायेगी। बोनमेरो ट्रासप्लांट के लिये इंदौर में बनाया जा रहा केन्द्र आगामी 15 जनवरी तक तैयार हो जायेगा। प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग द्वारा विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा किये जाने वाले ऑपरेशन के लिये 12 अस्पताल चिन्हित किये हैं। बैठक में अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए.पी. श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव वाणिज्य एवं उद्योग श्री मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्रीमती गौरी सिंह, प्रमुख सचिव वाणिज्य कर श्री मनोज श्रीवास्तव, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री एस.के. मिश्रा और मुख्यमंत्री के सचिव श्री विवेक अग्रवाल सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने दी गुरु नानक जयंती की बधाई


3 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरु नानक जयन्ती पर लोगों को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। श्री चौहान ने कहा कि गुरु नानक जी ने कहा था कि आन्तरिक साधना ही अनन्त और सर्वशक्तिमान परमात्मा की प्राप्ति का एक मात्र उपाय है। गुरु-कृपा, परमात्मा कृपा एवं शुभ कर्मों का आचरण इस साधना के अंग हैं। श्री चौहान ने कहा कि गुरु नानक की शिक्षाओं में असाधारण राष्ट्र-प्रेम परिलक्षित होता है। उनकी शिक्षाएं आज भी प्रासंगिक है और समाज का मार्गदर्शन कर रही है।


aaआगामी विधानसभा चुनाव को लेकर सभी जिले तैयारियाँ शुरू करें


3 November 2017

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्रीमती सलीना सिंह ने सभी जिला कलेक्टर को अगले साल होने वाले विधानसभा आम-चुनाव के लिए अभी से प्रारंभिक तैयारियाँ शुरू करने के निर्देश दिये हैं। श्रीमती सिंह आज मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय में जिलों के कलेक्टर की बैठक को संबोधित कर रही थीं। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा निर्वाचक नामावली में मतदाताओं के नाम जोड़ने के लिए संचालित संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम तथा ईआरओ नेट के संचालन के लिए बैठक का आयोजन किया गया था। श्रीमती सलीना सिंह ने कहा कि आगामी आम-चुनाव को दृष्टिगत रखते हुए विगत 4 अक्टूबर से चल रहे संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम, ईआरओ नेट और वीवीपैट का विशेष महत्व है। सभी जिले इन तीन विषय पर विशेष ध्यान दें। आयोग ने मतदाता-सूची के संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम को 3 नवम्बर से बढ़ाकर 30 नवम्बर तक कर दिया गया है। जिलों में 15 से 30 नवम्बर तक बीएलओ घर-घर जाकर नाम जोड़ने के लिए फार्म प्राप्त करेंगे। कार्यक्रम का लक्ष्य 10 लाख मतदाताओं के नाम निर्वाचक नामावली में शामिल करने का है। संक्षिप्त पुनरीक्षण अगले विधानसभा चुनाव के पूर्व का अंतिम संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम है। ऐसी स्थिति में सभी जिलों को इस कार्य को गंभीरता से लेकर समय-सीमा में पूरा करना होगा। श्रीमती सलीना सिंह ने जिलों के कलेक्टर से कहा कि 15 नवम्बर के पहले जिला निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी और बीएलओ का प्रशिक्षण पूर्ण करवायें। पुनरीक्षण कार्यक्रम के लिए आयोग के निर्देशों का भली-भाँति अध्ययन कर उनका पालन सुनिश्चित करें। श्रीमती सिंह ने बताया कि बीएलओ नेट के तहत जिन बीएलओ के पास स्मार्ट फोन उपलब्ध है, उन्हें डाटा भेजने के लिए 500 रुपये मानदेय दिया जायेगा। जिनके पास स्मार्ट फोन नहीं है, उन्हें उसके क्रय के लिए 1500 रुपये 3 साल तक प्रतिवर्ष दिया जायेगा। जिलों के कलेक्टर ईआरओ नेट पर फार्म प्राप्त होने तथा उनके निराकरण की प्रतिदिन समीक्षा करें। सभी पात्र विशेषकर 18-19 आयु वर्ग के मतदाताओं के फार्म प्राप्त होने तथा उनके निराकरण की पुष्टि कलेक्टर स्वयं करें। प्रदेश की पाँच विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों का चयन बीएलओ नेट पायलट प्रोजेक्ट के लिए किया जायेगा। इसके लिए चयनित कटनी, खरगोन, मण्डला, इंदौर और होशंगाबाद जिले से एक-एक विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र का नाम माँगा गया है। श्रीमती सलीना सिंह ने बताया कि वर्ष 2018 एवं वर्ष 2019 के चुनावों के लिए ईवीएम और वीवीपैट जुलाई-अगस्त 2018 से जिलों को प्राप्त होने लगेगी। इसके लिए गोडाउन की तैयारी अभी से प्रारंभ करें। नये गोडाउन के लिए बजट आवंटन प्राप्त कर निर्माण करवायें। भिण्ड, गुना, इंदौर, पन्ना, सिंगरौली, शहडोल, अनूपपुर और सतना में जमीन आवंटन की लंबित कार्यवाही को शीघ्र पूरा करवायें। वीवीपैट का प्रचार-प्रसार प्रत्येक शहर, वार्ड, मोहल्ला एवं ग्राम, मजरा, टोला में करवायें। ईआरओ नेट के संबंध में प्रशिक्षित निर्वाचन कर्मियों का उपयोग करें। सभी जिलों में वेंडर द्वारा पर्याप्त व्यवस्था की गई है। गत वर्ष विशेष प्रयासों से जिलों में निर्वाचन कार्य के लिए डाटा एन्ट्री ऑपरेटर और सहायक प्रोग्रामर के पद स्वीकृत किये गये हैं। बैठक में संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री एस.एस. बंसल ने प्रस्तुतिकरण द्वारा संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम और ईआरओ नेट की विस्तृत जानकारी दी। वीवीपैट के संचालन की प्रक्रिया से भी जिला कलेक्टरों को अवगत करवाया गया। जिला कलेक्टरों ने ईआरओ नेट और वीवीपैट के संबंध में महत्वपूर्ण सुझाव दिये।


aaभावांतर भुगतान योजना हेतु प्राथमिक सहकारी समितियों तक होंगे कार्यक्रम


2 November 2017

सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने प्राथमिक सहकारी साख समितियों (पेक्स) के स्तर तक किसानों को कार्यक्रम आयोजित कर भावांतर भुगतान योजना की विस्तृत जानकारी देने के निर्देश दिए हैं। राज्य मंत्री श्री सारंग ने विभागीय समीक्षा बैठक में आज मंत्रालय में उक्त निर्देश दिए। बैठक में प्रमुख सचिव सहकारिता श्री के.सी. गुप्ता, आयुक्त सहकारिता श्रीमती रेणु पंत, एम.डी. अपेक्स बैंक और विभाग के अन्य अधिकारी मौजूद थे। राज्य मंत्री श्री सारंग ने बैठक में कहा कि भावांतर भुगतान योजना किसान हितैषी है। इसके प्रावधानों के संबंध में सहकारिता विभाग द्वारा किसानों को विस्तार से जानकारी दी जाये। किसानों में योजना के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए जिला, विकासखण्ड और प्राथमिक सहकारी साख समितियों में कार्यक्रम आयोजित कर जानकारी दी जाये। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि योजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिये कार्यवाही आज से ही शुरू करें। प्रमुख सचिव सहकारिता श्री गुप्ता ने बताया कि जिला सहकारी बैंक के अधिकारियों की 3 नवम्‍बर को आयोजित बैठक के लिए निर्देश जारी कर दिए गये हैं। इस बैठक में भावांतर भुगतान योजना की विस्तृत जानकारी देने के लिए प्रजेंटेशन भी दिया जाएगा। बैठक में जिला सहकारी बैंक के अधिकारियों को योजना की जानकारी देने के लिए कार्यक्रम आयोजित करने के निर्देश भी दे दिए गये हैं।


aaम.प्र. शूटिंग अकादमी के खिलाड़ियों ने जीते 4 स्वर्ण और एक काँस्य-पदक


2 November 2017

पंजाब के पटियाला में पिछले दिनों आयोजित 27वीं ऑल इंडिया जी.व्ही. मावलंकर शॉटगन शूटिंग चैम्पियनशिप में मध्य प्रदेश राज्य शूटिंग अकादमी ने चार स्वर्ण और एक कांस्य पदक जीतकर मध्य प्रदेश का गौरव बढ़ाया है। चैम्पियनशिप में ट्रेप इवेन्ट के जूनियर और सीनियर वर्ग में अकादमी के खिलाड़ी गुबूशंकर ने एक-एक स्वर्ण पदक जीता जबकि स्कीट इवेन्ट के जूनियर एवं सीनियर बालिका वर्ग में पार्वती कुमरे ने एक-एक स्वर्ण पदक अर्जित किया। चैम्पियनशिप के ट्रेप इवेन्ट जूनियर बालिका वर्ग में अकादमी की खिलाड़ी मुस्कान कहार ने एक कांस्य पदक जीता। खेल और युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने चैम्पियनशिप में खिलाड़ियों की उपलब्धि की सराहना करते हुए उन्हें पदक जीतने पर बधाई दी। उन्होंने खिलाड़ियों से कहा कि वे इसी तरह आगामी प्रतियोगिताओं में भी शानदार प्रदर्शन कर पदक अर्जित करें और प्रदेश को गौरवान्वित करें। इस मौके पर मौजूद संचालक खेल और युवा कल्याण श्री उपेन्द्र जैन ने भी पदक विजेता खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन किया। पटियाला में आयोजित चैम्पियनशिप में खिलाड़ियों ने शूटिंग अकादमी के मुख्य तकनीकी सलाहकार एवं मुख्य प्रशिक्षक श्री मनशेर सिंह और प्रशिक्षक श्री हेमराज सिंह राणा के नेतृत्व में भागीदारी की।


aaमंत्री श्री गोपाल भार्गव ने अध्ययन दल के साथ किया हॉलेण्ड का दौरा


2 November 2017

पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने अध्ययन दल के साथ यूरोप देश हॉलैंड का दौरा किया। श्री भार्गव के नेतृत्व में फूलों की खेती, ऑर्गेनिक खेती एवं अर्बन फार्मिंग डेयरी उद्योग की नई तकनीकों एवं डेयरी क्षेत्र में रोजगार की संभावनाओं का विस्तार से अध्ययन किया। अध्ययन दल ने हालैण्ड में दुग्ध उत्पादन क्षमता में वृद्धि और दुग्ध उत्पादों की मार्केटिंग की तकनीकों की जानकारी भी प्राप्त की। हॉलैंड में राबो को-आपरेटिव बैंक डेरी फॉर्म, एग्रीकल्चर और फ्लोरीकल्चर को आर्थिक मदद करता है। अध्ययन दल ने बैंक अधिकारियों के साथ इस बारे में विस्तृत चर्चा की। मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने बैंक अधिकारियों को मोमेन्टो भेंट किये। मंत्री श्री भार्गव ने बताया कि मध्यप्रदेश ग्रामवासियों की आय में वृद्धि करने एवं उनके जीवन स्तर ऊपर उठाने के लिए इन नई तकनीकों को लागू किया जायेगा। इससे प्रदेश के ग्रामीण तबके के लोग अधिक से अधिक लाभ ले सकेगें। अध्ययन दल के साथ ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री राधेश्याम जुलानिया, ग्रामीण आजीविका मिशन के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एल.एम. बेलवाल एवं महात्मा गांधी राज्य ग्रामीण विकास संस्थान के संचालक, श्री संजय सर्राफ भी शामिल थे।


aaमध्यप्रदेश का नागरिक होने पर हमें गर्व है


1 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश अद्भुत राज्य है। शांति का टापू है और समय-समय पर प्रदेश ने मानवता की सेवा का उत्कृष्ट उदाहरण प्रस्तुत किया है। यहाँ सभी धर्मों और समुदायों के लोग मिल-जुलकर शांतिपूर्वक रहते हैं। उन्होंने कहा कि हम सबको मध्यप्रदेश का नागरिक होने पर गर्व है। श्री चौहान आज यहाँ मंत्रालय प्रांगण में मध्यप्रदेश के स्थापना दिवस 'मध्यप्रदेश उत्सव'' कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने शासन-प्रशासन में उत्कृष्ट कार्य करने वाले प्रशासनिक अधिकारियों-कर्मचारियों और प्रदेश का गौरव बढ़ाने वाले खिलाड़ियों को सम्मानित किया। श्री चौहान ने उपस्थित शासकीय अधिकारियों-कर्मचारियों और नागरिकों को मध्यप्रदेश के सर्वांगीण विकास में श्रेष्ठ योगदान देने और समृद्ध मध्यप्रदेश का निर्माण करने में निरंतर कार्य करने का संकल्प दिलाया। श्री चौहान ने नागरिकों से वैभवशाली, गौरवशाली, सम्पन्न और सशक्त मध्यप्रदेश के निर्माण में अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश के विकास की चर्चा करते हुए कहा कि प्रदेश ने लम्बी विकास यात्रा तय की है। विगत एक दशक में प्रदेश ने विकास के हर क्षेत्र में लम्बी छलांग लगाई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की विकास दर लगातार दो अंकों में बनी हुई है। कृषि विकास दर पिछले पाँच साल में औसत बीस प्रतिशत बनी है जो पूरे विश्व में सबसे ज्यादा है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश ने कई क्षेत्रों में उत्कृष्टता के मापदण्ड स्थापित किये हैं। स्वच्छता के क्षेत्र में पूरे देश में इंदौर प्रथम और भोपाल दूसरे स्थान पर रहा। किसी समय बीमारू और पिछड़ा कहलाने वाला प्रदेश आज देश का सबसे तेज गति से आगे बढ़ने वाला प्रदेश बन गया है। चाहे सड़क नेटवर्क के विस्तार का क्षेत्र हो, सिंचाई रकबा बढ़ने का विषय हो या पॉवर सरप्लस बनने का विषय हो या पर्यटन-स्थलों के विकास का मामला हो सभी क्षेत्रों में प्रदेश ने अग्रणी स्थान बनाया है। महिलाओं के सशक्तिकरण में भी अभूतपूर्व कार्य किया है। श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश के नागरिक एवं अधिकारी-कर्मचारी गर्व करने योग्य हैं। उनकी मेहनत से प्रदेश तेजी से आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों के कल्याण के लिये भी राज्य सरकार ने कई कदम उठाये हैं। हर एक व्यक्ति का पूरा ध्यान रखा गया है। प्रत्येक का मान-सम्मान, गौरव, स्वाभिमान बढ़ाने का काम किया है। उन्होंने मुख्य सचिव को निर्देश दिये कि उत्कृष्ट काम करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों को सम्मान देने के लिये प्रत्येक विभाग अपने यहाँ व्यवस्थाएँ बनायें। श्री चौहान ने प्रदेश की खेल अकादमियों में प्रशिक्षित खिलाड़ियों को अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में उल्लेखनीय उपलब्धियाँ हासिल करने के लिये सम्मानित किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जिन अधिकारी-कर्मचारियों का अभिनंदन किया उनमें मुख्य वन संरक्षक एवं क्षेत्र संचालक पन्ना टाईगर रिजर्व श्री आर. श्रीनिवास मूर्ति, कलेक्टर इन्दौर श्री निशांत वरवड़े, कलेक्टर रीवा श्री एस.एन. शुक्ला, जय भादवा माता कृषि तकनीकी प्रबंधन समिति (आत्मा) नीमच, मेडिकल ऑफीसर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पचोर, राजगढ़ डॉ. डी.एस. भदौरिया, तत्कालीन कलेक्टर जिला उमरिया श्री एस.के. उपाध्याय, कलेक्टर देवास श्री आशुतोष अवस्थी, तत्कालीन कलेक्टर सीहोर श्री सुदाम खांडे कलेक्टर शहडोल डॉ. अशोक कुमार भार्गव, अपर आयुक्त नगर निगम इंदौर श्री रोहन सक्सेना, कलेक्टर बैतूल श्री ज्ञानेश्वर बी. पाटिल, अपर कलेक्टर विदिशा श्रीमती अंजू पवन भदौरिया, तत्कालीन अनुविभागीय अधिकारी सिवनी श्री अरूण कुमार विश्वकर्मा और अनुविभागीय अधिकारी राजगढ़ डॉ. ममता खेड़े शामिल हैं। अन्य अधिकारियों में तहसीलदार रेहटी श्री राजेन्द्र जैन, अनुविभागीय अधिकारी जतारा श्री आदित्य सिंह, अनुविभागीय अधिकारी ग्वालियर श्री महीप तेजस्वी, तहसीलदार जबलपुर श्री पंकज मिश्रा, अनुविभागीय अधिकारी कुक्षी जिला धार श्री ऋषभ गुप्ता, उपायुक्त भू-अभिलेख एवं बंदोबस्त ग्वालियर श्री हृदयेश कुमार श्रीवास्तव, तहसीलदार तहसील सीतामउ जिला मंदसौर श्री दीपक पाण्डेय, अनुविभागीय अधिकारी धार सुश्री भव्या मित्तल, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व जिला खण्डवा श्री शाश्वत शर्मा, तहसीलदार करेरा जिला शिवपुरी श्री नवनीत कुमार शर्मा, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व मनासा जिला नीमच श्रीमती वन्दना मेहरा, अनुविभागीय अधिकारी इटारसी जिला होशंगाबाद श्री अभिषेक गेहलोत, तहसीलदार जोबट जिला अलीराजपुर श्री अजमेर सिंह गौड़, सहायक अधीक्षक भू-अभिलेख जिला झाबुआ सुश्री डॉ. श्वेता जमरा, अनुविभागीय अधिकारी गौहरगंज जिला रायसेन श्री राजेश श्रीवास्तव, तहसीलदार गौहरगंज जिला रायसेन श्री चन्द्रशेखर श्रीवास्तव, उपायुक्त भोपाल प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) श्रीमती मनीषा दवे, सिस्टम एनालिस्ट मध्यप्रदेश राज्य रोजगार गारंटी परिषद भोपाल श्री ओवेस अहमद, उपायुक्त स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) भोपाल श्री अजीत तिवारी, पंचायत राज संचालनालय भोपाल के उप संचालक श्री विनोद यादव, अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी एलआरएलएम, भोपाल श्री विकास अवस्थी, मुख्य महाप्रबंधक मध्यप्रदेश ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण भोपाल श्री डी.के. चौधरी, नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग के उप संचालक श्री नीलेश दुबे, कार्यपालन यंत्री नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग श्री आनंद सिंह, संयुक्त संचालक नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग श्री अनिल गौड़, संयुक्त संचालक नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग श्री मयंक वर्मा, राज्य प्रबंधन लोक सेवा श्री विकास सेंगर, सदस्य सचिव मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड भोपाल श्री ए.ए. मिश्रा, म.प्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, इंदौर के अधीक्षण यंत्री श्री आर.के. गुप्ता, पर्यावरण विभाग, मंत्रालय के सहायक ग्रेड-2 श्री सुनील कुमार गुप्ता, आवास एवं पर्यावरण विभाग के अवर सचिव श्रीमती सुप्रिया पेंडके, म.प्र. गृह निर्माण मंडल के प्रशासकीय अधिकारी श्री राजेश बाथम, म.प्र. गृह निर्माण मंडल के सहायक यंत्री श्री अरविंद गुमाश्ते और एप्को भोपाल के मुख्य परियोजना अधिकारी श्री लोकेन्द्र ठक्कर शामिल हैं।


aaजन सुरक्षा विधेयक विधानसभा के आगामी सत्र में लाएंगे : मुख्यमंत्री श्री चौहान


1 November 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मासूमों के साथ दुराचार की घटनाओं में कठोर सजा के लिये आगामी विधानसभा सत्र में जनसुरक्षा विधेयक लाया जायेगा। उन्होंने कहा कि किसानों को फसलों का उचित मूल्य दिलाने के लिये सरकार ने भावांतर भुगतान योजना लागू की है। इससे किसानों को फसलों की उचित कीमत मिल रही है और उनके हितों की रक्षा हुई है। प्रदेश में न्यायसंगत व्यवस्था स्थापित हुई है। श्री चौहान आज यहाँ मध्यप्रदेश स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित राज्यस्तरीय समारोह को संबोधित कर रहे थे। समारोह का आयोजन लाल परेड ग्राउंड में किया गया था। इस अवसर पर मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान भी मौजूद थीं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भावांतर भुगतान योजना के बारे में भ्रम पैदा करने की कोशिशें सफल नहीं होंगी। योजना की जानकारी देते हुये उन्होंने बताया कि मॉडल विक्रय मूल्य और समर्थन मूल्य में अंतर की राशि किसानों के बैंक खातों में सीधे राज्य सरकार जमा करेगी। उन्होंने बताया कि सोयाबीन का मॉडल अथवा औसत मूल्य प्रति क्विंटल 2 हजार 580 रूपये है जबकि समर्थन मूल्य 3 हजार 50 रूपये है। राज्य सरकार द्वारा सोयाबीन के किसानों को प्रति क्विंटल 470 रूपये भावांतर की राशि उनके खातों में जमा कराई जा रही है। इसी तरह उड़द का मॉडल मूल्य 3 हजार रूपये, समर्थन मूल्य 5 हजार 400 रूपये होने से 24 सौ रूपये, मूंगफली का 3 हजार 720, समर्थन मूल्य 4 हजार 450 रूपये होने से 730 रूपये, मूंग का 4 हजार 120, समर्थन मूल्य 5 हजार 575 रूपये होने से, 1455 रूपये, मक्का का 11 सौ 90 समर्थन मूल्य 1425 रूपये होने से 235 रूपये प्रति क्विंटल भावांतर की राशि सरकार द्वारा दी जा रही है। श्री चौहान ने आव्हान किया है कि आतंकवाद, भ्रष्टाचार, गरीबी मुक्त स्वच्छ मध्यप्रदेश बनाने के लिये साढ़े सात करोड़ जनता को संकल्पित होना होगा, अपना सर्वश्रेष्ठ समर्पित करने आगे आना होगा। सबको मिलकर मध्यप्रदेश को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाना है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश उनके लिये दुनिया का सबसे प्यारा अदभुत राज्य है। यहाँ की जनता उनकी भगवान है, वे तो सिर्फ पुजारी हैं। उन्होंने कहा कि हमारा मध्यप्रदेश अमेरिका, इंग्लैण्ड आदि से कहीं अधिक अच्छा है। इसे देखने के लिये सकारात्मक सोच होना जरूरी है। अपने प्रदेश पर गर्व की भावना होना आवश्यक है। गुलाम मानसिकता के लोग ही दूसरे देश को अपने देश से अच्छा समझ सकते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय नागरिक दुनिया में गर्व से खड़ा हो सके, ऐसे न्यू इंडिया का निर्माण हो रहा है। उनके प्रयासों में मध्यप्रदेश सबसे आगे रहेगा। समाज के हर वर्ग के कल्याण के लिये सरकार कार्य कर रही है। गरीब परिवार को एक रूपये किलो गेहूँ, चावल देने, रहने के लिये भूमि के टुकड़े का अधिकार देने वाला पहला प्रदेश है मध्यप्रदेश। वर्ष 2022 तक हर शहरी ग्रामीण गरीब को पक्की छत मुहैया होगी। बिना बिजली कनेक्शन वाले 42 लाख परिवारों को आगामी दो वर्षों में कनेक्शन उपलब्ध करवा दिये जायेंगे। लघु कुटीर उद्योगों का जाल बिछाने के लिये नवाचार को आगे आने वाले युवाओं के लिये सौ करोड़ रूपये का वेंचर केपिटल फंड बनाया गया है। मेधावी बच्चों का गरीबी से भविष्य बर्बाद नहीं हो, इसके लिये शिक्षण संस्थानों की फीस राज्य सरकार द्वारा भरवाये जाने की योजना इसी वर्ष लागू की गई है। शहरी विकास पर 90 हजार करोड़ रूपये का व्यय किया जायेगा। श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश तेजी से आगे बढ़ने वाला राज्य है। यहाँ की विकास दर निरंतर डबल डिजिट में है। पाँच वर्षों से कृषि कर्मण पुरस्कार पाने वाले राज्य की कृषि विकास दर 20 प्रतिशत से अधिक बनी हुई है। लोक सेवा गारंटी कानून, सी एम हेल्पलाइन, ई-उपार्जन की सुव्यवस्थित व्यवस्था, आनंद विभाग का गठन, महिला कल्याण की योजनायें, महिलाओं को वन विभाग छोड़ अन्य सभी विभागों में 33 प्रतिशत और शिक्षक पदों में 50 प्रतिशत आरक्षण देने, अनेक दलहन, खाद्यान्न, औषधीय एवं पुष्पीय फसलों के उत्पादन आदि में प्रदेश देश का अग्रणी राज्य है। उन्होंने कहा कि स्थापना दिवस का भव्य आयोजन राज्य के नागरिकों की भावनात्मक एकता और हर दिल में जिद, जनून और जज्बे का भाव पैदा करने के लिये किया जाता है। राज्य का गौरवशाली इतिहास है। मुख्यमंत्री ने नागरिकों को प्रदेश के 62वें स्थापना दिवस की शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश गौरव पुरस्कार से श्री रमाकांत-उमाकांत गुंदेजा बंधुओं, श्री अमृतलाल बेगड़, सुश्री जनक पल्टा, श्री हरचंदन सिंह भाटी को सम्मानित किया। संस्कृति राज्य मंत्री श्री सुरेन्द्र पटवा ने अतिथियों का स्वागत किया। समारोह में प्रसिद्ध कवि श्री शैलेष लोढ़ा ने हास्यरस रचनाओं से श्रोताओं को आनंदित किया। श्री शैलेन्द्र कृष्णा के निर्देशन में नृत्य नाटिका 'श्रीकृष्ण' की भावपूर्ण प्रस्तुति हुई जिसने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। पार्श्व गायिका सुश्री श्रेया घोषाल के मधुर गीतों ने वातावरण को संगीतमय बना दिया। प्रारंभ में सुश्री सुहासिनी जोशी ने मध्यप्रदेश गान का गायन किया। स्वस्ति पूजन, दीप प्रज्वलन से कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ। स्थापना समारोह में पूर्व मुख्यमंत्री श्री बाबूलाल गौर, पूर्व सांसद श्री कैलाश सारंग, सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग, महापौर श्री आलोक शर्मा, सांसद श्री आलोक संजर, विधायक श्री विष्णु खत्री, श्री सुरेन्द्र नाथ सिंह, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री आर.के. शुक्ला, मेजर जनरल श्री डी.पी.एस. रावत सहित बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे


aaडॉ. नरोत्तम मिश्र ने स्थापना दिवस पर दतिया में किया ध्वजारोहण


1 November 2017

मध्यप्रदेश के 62वे स्थापना दिवस के अवसर पर जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया जिला मुख्यालय पर आयोजित कार्यक्रम में ध्वजारोहण किया। डॉ. मिश्र ने लोगों को स्थापना दिवस की बधाई और शुभकामनायें दी तथा उपस्थित जन-समुदाय को प्रदेश की समृद्धि में भागीदारी का संकल्प दिलवाया और मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के संदेश का वाचन किया। कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती रजनी प्रजापति, श्री विक्रम सिंह बुन्देला सहित अन्य गणमान्य नागरिक, जन-प्रतिनिधि, अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे। स्थापना दिवस कार्यक्रमों में लोगों को मध्यप्रदेश की विकास यात्रा पर आधारित लघु फिल्म दिखाई गई। कार्यक्रम में मध्यप्रदेश गान का गायन हुआ तथा सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुतियां दी गईं। मिनी मैराथन दौड़ भी आयोजित की गई। मैराथन दौड़ स्थानीय भारतीयम् विद्यापीठ से शुरू हुई। इस दौड़ में अधिकारी, कर्मचारी, विद्यार्थी, राजनैतिक दलों के पदाधिकारी और गणमान्य नागरिक सम्मिलित हुए।


aaउद्योग मंत्री श्री शुक्ल की मौजूदगी में रीवा में गरिमामय ढंग से मनाया गया म.प्र. स्थापना दिवस


1 November 2017

मध्यप्रदेश का 62 वां स्थापना दिवस आज रीवा मुख्यालय में गरिमामय तरीके से मनाया गया। वाणिज्य एवं उद्योग तथा खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने मुख्य कार्यक्रम में ध्वजारोहण किया। श्री शुक्ल ने समारोह में ध्वजारोहण किया और मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन किया। उद्योग मंत्री ने जन-समुदाय को प्रदेश की समृद्धि तथा विकास में सहभागी बनने का संकल्प दिलाया। कार्यक्रम में मध्यप्रदेश गान का गायन हुआ। इस अवसर पर विद्यालयीन छात्राओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये। साथ ही योग प्रदर्शन और समूह गान हुआ। कार्यक्रम में श्री शुक्ल ने उत्कृष्ट कार्य करने वाले शासकीय सेवकों को सम्मानित किया। अनाथाश्रम को सम्मान-निधि प्रदान की। इस अवसर पर मध्यप्रदेश के विकास की डाक्यूमेंट्री फिल्म भी लोगों ने देखी। समारोह में जनसंपर्क, महिला एवं बाल विकास, कृषि, नगर निगम आदि विभागों द्वारा विकास प्रदर्शनी लगायी गयी। साथ ही विकास एवं स्वच्छता का संदेश देने वाले फ्लैक्स लगाये गये। कार्यक्रम में सांसद श्री जनार्दन मिश्रा, जिला पंचायत उपाध्यक्ष सुश्री विभा पटेल, अध्यक्ष नगर निगम श्री सतीश सोनी, सहित गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।


aaनगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती सिंह द्वारा उत्कृष्ट शासकीय सेवक सम्मानित


1 November 2017

मध्यप्रदेश स्थापना दिवस के अवसर पर नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने आज ग्वालियर में ध्वजारोहण कर मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन किया। श्रीमती सिंह ने समारोह में उपस्थित जन-समूह को स्वर्णिम मध्यप्रदेश के निर्माण में योगदान देने का संकल्प दिलाया। इस अवसर पर उन्होंने उत्कृष्ट कार्य करने वाले शासकीय सेवकों को सम्मानित किया। मंत्री श्रीमती माया सिंह ने इस अवसर पर जनसम्पर्क और नगर निगम द्वारा संयुक्त रूप से लगाई स्वच्छता पर केन्द्रित प्रदर्शनी, महिला एवं बाल विकास द्वारा अटल बाल पोषण मिशन तथा भावांतर भुगतान योजना एवं अन्य विकास योजनाओं पर केन्द्रित प्रदर्शनी का अवलोकन किया। कार्यक्रम में स्कूली बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गये। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती मनीषा भुजवल सिंह यादव, सामान्य निर्धन वर्ग कल्याण आयोग के अध्यक्ष श्री बालेन्दु शुक्ल, जन-प्रतिनिधि, शासकीय अधिकारी-कर्मचारी और गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।


aaम.प्र. स्थापना दिवस- स्वास्थ्य मंत्री श्री रूस्तम सिंह द्वारा मुरैना में ध्वजारोहण


1 November 2017

प्रदेश के समग्र विकास के संकल्प के साथ मुरैना में मध्यप्रदेश स्थापना दिवस गरिमामय एवं समारोह पूर्वक मनाया गया। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री रूस्तम सिंह ने समारोह में ध्वजारोहण कर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के संदेश का वाचन किया। श्री सिंह ने उपस्थित जन समूह को प्रदेश की उन्नति में सहयोग एवं विकास का संकल्प लेते हुए स्वच्छता की शपथ भी दिलवाई। इस अवसर पर उपस्थित जन-समूह ने राष्ट्रीय गीत, मध्यप्रदेश गान के साथ जनसम्पर्क संचालनालय द्वारा तैयार मध्यप्रदेश विकास की लघु फिल्म भी देखी। स्थापना दिवस समारोह में स्कूली बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों की आकर्षक प्रस्तुति की गई। सांस्कृतिक कार्यक्रम में उत्कृष्ट प्रस्तुति के लिये मुरैना के एमजी मेमोरियल स्कूल को प्रथम पुरस्कार स्वरूप 2 हजार रुपये, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय को द्वितीय पुरस्कार एक हजार और विक्टर कान्वेट को 500 रुपये दिये गये। इसी तरह, स्वेच्छा से सांस्कृतिक कार्यक्रमों में प्रथम स्थान को 5 हजार रुपये, द्वितीय को 3 हजार रुपये और तृतीय को 2500 रुपये का पुरस्कार दिया गया। श्री सिंह ने स्वच्छता पर गीत प्रस्तुत करने वाले कलाकारों और सर्वाधिक प्रस्तुति देने वाली बालिका कु. आद्रिका गोयल को भी सम्मानित किया। इस अवसर पर महापौर श्री अशोक अर्गल कुक्कुट विकास निगम के अध्यक्ष श्री मुंशीलाल, जन-प्रतिनिधि, प्रशासनिक अधिकारी और बड़ी संख्या में नागरिक एवं बच्चे उपस्थित थे।


aaजनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने स्थापना दिवस पर दी बधाई


31 October 2017

जनसम्पर्क, जल संसाधन और संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने मध्यप्रदेश स्थापनाप दविस पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनायें दी हैं। डॉ. मिश्र ने शुभकामना संदेश में कहा कि आने वाले समय में मध्यप्रदेश विकास और अभिनव योजनाओं के क्रियान्वयन देश का विशिष्ट राज्य होगा। उन्होंने कहा कि विभिन्न क्षेत्रों में विकास के आयाम तय कर चुके मध्यप्रदेश को जन सहयोग और शांति, सद्भाव के प्रदेश के रूप में विश्व व्यापी पहचान मिल रही है।


aaभारत का वर्तमान स्वरूप सरदार वल्लभ भाई पटेल के प्रयासों का परिणाम- मुख्यमंत्री श्री चौहान


31 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज यहाँ सरदार वल्लभ भाई पटेल की 142वीं जयंती पर नागरिकों को राष्ट्रीय एकता की शपथ दिलाई। उल्लेखनीय है कि सरदार वल्लभ भाई पटेल को जन्म-दिवस को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में पूरे प्रदेश में मनाया जा रहा है। सभी जिलों में सरदार पटेल के योगदान का स्मरण करते हुये उन्हें श्रद्धाजंलि दी गई। राज्य मंत्रालय के सरदार वल्लभ भाई पटेल उद्यान में मंत्रालय के अधिकारियों, कर्मचारियों, स्थानीय नागरिकों और विद्यार्थियों को मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीय एकता, अखण्डता और सुरक्षा को बनाये रखने की शपथ दिलाई। उन्होंने सरदार वल्लभ भाई पटेल का पुण्य स्मरण किया। श्री चौहान ने अपने संबोधन में कहा कि भारत का वर्तमान स्वरूप सरदार वल्लभ भाई पटेल के अथक प्रयासों का परिणाम है। उन्होंने पाँच सौ रियासतों को भारत में शामिल करने में अविस्मरणीय योगदान दिया। श्री चौहान ने कहा कि यदि तत्कालीन प्रधानमंत्री स्व. श्री जवाहर लाल नेहरू ने जम्मू-कश्मीर का मामला भी सरदार पटेल को सौंप दिया होता तो आज पाक अधिकृत कश्मीर भारत का हिस्सा होता। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सरदार पटेल ने भोपाल, हैदराबाद और जूनागढ़ की रियासतों को भी भारत में विलय होने के लिये मजबूर किया। श्री चौहान ने कहा कि भारत की एकता और अखण्डता को विखण्डित करने के प्रयासों को कभी कामयाब नहीं होने दिया जाएगा। भारत की एकता को खण्डित करने के प्रयासों को मुँह तोड़ जवाब मिलेगा। उन्होंने कहा कि भारत अब 1962 का भारत नहीं रहा। आज भारत एक सशक्त और सक्षम राष्ट्र है। पाकिस्तान की सीमा पर घुसकर सर्जिकल स्ट्राईक कर सकता है और चीन की सेना को वापस जाने के लिये मजबूर कर सकता है। इस अवसर पर सहकारिता राज्य मंत्री श्री विश्वास सारंग, सांसद श्री आलोक संजर, विधायक श्री सुरेन्द्र नाथ सिंह एवं श्री रामेश्वर शर्मा, महापौर श्री आलोक शर्मा और बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने मध्यप्रदेश स्थापना दिवस पर नागरिकों को दी बधाई


31 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश के 62वें स्थापना दिवस पर नागरिकों को बधाई एवं शुभकामनाएँ दी हैं। मुख्यमंत्री ने शुभकामना संदेश में कहा है कि प्रदेश के नागरिकों ने मध्यप्रदेश का नव-निर्माण करने में अथक परिश्रम किया है। चाहे वे किसान हों, व्यापारी हों, शासकीय अधिकारी-कर्मचारी हों; इंजीनियर, चिकित्सक, वकील हों, युवा हों, माताएं-बहनें हों या मजदूर हों; सभी वर्गों का मध्यप्रदेश के विकास में अविस्मरणीय योगदान है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में नये भारत का निर्माण हो रहा है जो हर प्रकार से सशक्त, सक्षम और सम्पन्न होगा। उन्होंने कहा कि इस दिशा में आगे बढ़ते हुये नया मध्यप्रदेश बनाने में भी नागरिकों का सहयोग और समर्थन मिल रहा है। जल्दी ही मध्यप्रदेश विकास के नये-नये सौपान तय करेगा। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश ने विगत एक दशक में हर क्षेत्र में अभूतपूर्व प्रगति की है। सरकार की जनहितैषी नीतियों को भरपूर समर्थन देते हुए सभी नागरिक प्रदेश को आगे बढ़ाने में योगदान दे रहे हैं।


aaखेल मंत्री श्री सिंधिया ने किया रन फॉर यूनिटी दौड़ का शुभारंभ


31 October 2017

खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने सरदार वल्लभ भाई पटेल की 142वीं जयंती पर आज यहां टी.टी. नगर स्टेडियम में राष्ट्रीय एकता दौड 'रन फॉर यूनिटी' को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। 'रन फॉर यूनिटी' में लगभग 5 हजार प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। इन प्रतिभागियों में विभिन्न खेल अकादमी के खिलाड़ी, स्कूली बच्चे, भरती सूचना केन्द्र के प्रशिक्षु और एन.एस.एस. के विद्यार्थी शामिल थे। राष्ट्रीय एकता दौड टी.टी. नगर स्टेडियम से शुरू होकर, 1250 अस्पताल के रास्ते राज्य मंत्रालय के सरदार वल्लभ भाई पटेल उद्यान पर समाप्त हुई। इस अवसर पर प्रमुख सचिव खेल एवं युवा कल्याण श्री सचिन सिन्हा, संचालक खेल एवं युवा कल्याण श्री उपेन्द्र जैन, डीआईजी पुलिस श्री संतोष सिंह और जिला कलेक्टर श्री सुदाम खांडे उपस्थित थे।


aaविज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री द्वारा अखंड भारत-सरदार पटेल डिजिटल प्रदर्शनी का शुभारंभ


31 October 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने है कहा कि आंचलिक विज्ञान केन्द्र परिसर भोपाल में तारामंडल बनाया जायेगा। श्री गुप्ता ने श्री सरदार वल्लभ भाई पटेल के जन्म-दिन पर 'अखंड भारत-सरदार पटेल' डिजिटल प्रदर्शनी का उदघाटन किया। प्रदर्शनी 30 नवम्बर तक सुबह 10.30 बजे से शाम 6 बजे तक खुली रहेगी। श्री गुप्ता ने प्रदर्शनी का अवलोकन किया। उन्होंने कहा कि स्कूल और कॉलेज के विद्यार्थियों को यह डिजिटल प्रदर्शनी जरूर देखना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रस्तावित वीर-भूमि गैलरी में यह प्रदर्शनी स्थायी रूप से लगाने पर विचार किया जायेगा। श्री गुप्ता ने श्री पटेल के जीवन और कार्यों पर बनी फिल्म भी देखी। प्रदर्शनी में 'कौन थे सरदार', 'एक देश-अनेक देश', 'राजसी रियासतों की पहचान', ' विभाजन की विभी‍षिका', 'आजादी के पहले का तूफान', 'भोपाल की रियासत', 'नया स्वतंत्र भारत', 'व्यंग्य चित्र में सरदार', 'भारतीय प्रशासनिक सेवा के पहले दस्ते के साथ' और 'अपने भारत को रंग दें' पर केद्रित डि‍जिटल प्रदर्शनी अतुलनीय है। आंचलिक विज्ञान केन्द्र के डायरेक्टर श्री शिव प्रसाद खेन्ट ने प्रदर्शनी के बारे में जानकारी दी। इस दौरान मेप कास्ट के महा निदेशक डॉ. नवीन चन्द्र भी उपस्थित थे।


aaचहुँमुखी विकास का रोडमैप नागरिकों को सौंपा जाएगा : मुख्यमंत्री श्री चौहान


30 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर प्रदेश के चहुँमुखी विकास का रोडमैप तैयार करने के लिए विभिन्न विषयों पर गठित मंत्रियों और वरिष्ठ अधिकारियों की 14 अलग-अलग समितियों ने आज यहां मंत्रालय में उच्च स्तरीय बैठक में अपनी अनुशंसाओं की प्रस्तुतियाँ दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि चहुँमुखी विकास का रोडमैप नागरिकों को सौंपा जाएगा। श्री चौहान ने सभी संबंधित विभागों को तैयार किये गये रोडमैप पर रणनीतियां और कार्य-योजनाएं बनाकर कार्य शुरू करने के निर्देश दिये। उन्होंने समितियों की ऐसी अनुशंसाओं को तत्काल प्रभाव से लागू करने के निर्देश दिये, जिन्हें लागू करने से सरकार पर कोई वित्तीय भार नहीं आएगा। श्री चौहान ने नीतियों में बदलाव करने की अनुशंसाओं पर आधारित प्रस्तावों को विचार के लिये कैबिनेट में प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। बैठक में गदंगी मुक्त मध्यप्रदेश , गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, हर घर में बिजली , कृषि आय दोगुना करने, गौवंश संरक्षण, सामान्य निर्धन वर्ग कल्याण, आतंकवाद मुक्त मध्यप्रदेश, भ्रष्टाचार मुक्त मध्यप्रदेश, गरीबी मुक्त मध्यप्रदेश, ईज ऑफ डूइंग बिजनेस, अनुसूचित जाति, जनजाति एवं घुमक्कड़ जाति कल्याण, हर घर में शुद्ध पेयजल पर गठित समितियों ने अपनी-अपनी अनुशंसाओं की प्रस्तुति दी। बैठक में मंत्रि-परिषद के सदस्य, मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह, पुलिस महानिदेशक श्री ऋषिकुमार शुक्ला एवं वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


aaराज्यपाल श्री कोहली करेंगे अखिल भारतीय कालिदास समारोह का शुभारंभ


30 October 2017

राज्यपाल श्री ओमप्रकाश कोहली 31 अक्टूबर को उज्जैन में अखिल भारतीय कालिदास समारोह का शुभारंभ करेंगे। इस बार प्रतिष्ठित समागम का शुभारंभ देव प्रबोधनी एकादशी के प्रसंग पर हो रहा है, जिससे इस आयोजन की गरिमा बढ़ गई है। इस मौके पर मंगल घट स्थापना एवं नान्दी का आयोजन होगा। मंगल घट स्थापना क्षिप्रा के रामघाट से प्रारंभ होकर कालिदास संस्कृत अकादमी पहुँचेगी। इसी दिन रात्रि 7.30 बजे पण्डित राज-साजन मिश्र, बनारस द्वारा शास्त्रीय संगीत की प्रस्तुति होगी। संस्कृति विभाग एवं विक्रम विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित कालिदास समारोह के अंतर्गत चित्र एवं मूर्ति-कला की राष्ट्रीय कालिदास प्रदर्शनी तथा वाद्य-यंत्रों और प्राचीन सिक्कों की प्रदर्शनी का आयोजन भी किया जाएगा। अखिल भारतीय कालिदास समारोह में सात दिवसीय सारस्वत एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे। कालिदास समारोह के शुभ प्रसंग पर विशेष अतिथि के रूप में ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन, संस्कृति एवं पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा, सांसद डॉ. चिन्तामणि मालवीय एवं महापौर श्रीमती मीना जोनवाल उपस्थित रहेंगे। वरिष्ठ विद्वान आचार्य श्री रेवाप्रसाद द्विवेदी, पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ. मुरली मनोहर जोशी एवं श्री कमल मोररका विशेष रूप से मौजूद रहेंगे।


aaकृषक कल्याण एवं कृषि विकास में अव्वल हुआ मध्यप्रदेश


30 October 2017

मध्यप्रदेश में विकास और जन कल्याण के विभिन्न क्षेत्रों में हुई अभूतपूर्व प्रगति देखने में पड़ोसी राज्य का मीडिया जगत रूचि लेने लगा है। इसी परिप्रेक्ष्य में महाराष्ट्र राज्य के पत्रकारों का एक दल मध्यप्रदेश आया है। इस दल में शामिल वरिष्ठ पत्रकारों ने प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों का दौरा किया, विकास कार्यों को देखा, नवाचारों से अवगत हुए, किसानों और उद्यमियों से मिलकर प्रदेश की माली हालत भी जानी। जनसंपर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र से आज महाराष्ट्र राज्य के वरिष्ठ पत्रकारों के दल ने उनके निवास पर भेंट की। डॉ. मिश्र ने पत्रकारों का प्रदेश भ्रमण पर स्वागत करते हुए बताया कि मध्यप्रदेश में कृषि, शिक्षा, रोजगार, उद्योग और महिला-बाल विकास जैसी सीधी आम आदमी से जुड़ी योजनाओं के क्रियान्वयन से उल्लेनीय प्रगति की है। डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कहा है कि मध्यप्रदेश में गत 14 वर्ष में 7 लाख हेक्टेयर से 40 लाख हेक्टेयर तक सिंचाई क्षेत्र में वृद्धि एक ऐतिहासिक उपलब्धि है। सिंचाई क्षेत्र में 6 गुना वृद्धि के फलस्वरूप ही मध्यप्रदेश लगातार कृषि कर्मण अवार्ड प्राप्त कर रहा हैं। हर खेत तक सिंचाई के लिए जल पहुँचाने के कार्य को प्राथमिकता दी गई है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने गुजरात की तरह मध्यप्रदेश में विद्युत फीडर सेपरेशन सिस्टम लागू कर हर वर्ग के लिए पर्याप्त विद्युत प्रदाय की व्यवस्था सुनिश्चित की है। डॉ. मिश्र ने कहा कि मध्यप्रदेश की कई योजनाएं अब अन्य राज्यों में लागू की जा रही है। इनमें प्रमुख रूप से लाड़ली लक्ष्मी योजना, सायकिल प्रदाय योजना, मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना शामिल हैं। जनसंपर्क मंत्री ने कहा कि हाल ही लागू भावांतर भुगतान योजना किसानों को बाजार में उनकी उपज का सम्मानजनक मूल्य दिलवाने में उपयोगी सिद्ध हो रही है। डॉ. मिश्र ने पत्रकारों को प्रदेश में संसदीय कार्य और जनसंपर्क की गतिविधियों की जानकारी दी। विशेष रूप से पत्रकारों के लिए बीमा योजना, श्रद्धानिधि योजना, अधिमान्यता प्रदान करने और विभिन्‍न क्षेणियों में पुरस्कृत किए जाने के प्रावधानों और योजनाओं की जानकारी दी। जनसम्‍पर्क मंत्री डॉ. मिश्र को पत्रकारों ने बताया कि उन्हें मध्यप्रदेश विशेष कर भोपाल पहुँचकर प्राकृतिक सुंदरता देखकर खुशी मिली है। विभिन्न संस्थानों के भ्रमण से नई जानकारियां भी प्राप्त हो रही है। महाराष्ट्र राज्य का यह पत्रकार दल 29 अक्टूबर को मध्यप्रदेश के कृषि उत्पादन आयुक्त श्री पी.सी. मीणा और प्रमुख सचिव कृषक कल्याण एवं कृषि विकास डॉ. राजेश राजौरा से मिला। प्रदेश में किसानों के लिये और कृषि के क्षेत्र में राज्य सरकार द्वारा क्रियान्वित योजनाओं की जानकारी ली प्रदेश की उपब्धियाँ जानी। पत्रकारों को कृषि उत्पादन आयुक्त श्री पी.सी. मीणा ने बताया कि मध्यप्रदेश में प्रधानमंत्री की मंशा के अनुरूप किसानों की आय दोगुनी करने के लिये प्रभावी कार्य-योजना बनाकर उस पर अमल किया जा रहा है। प्रदेश को पिछले पाँच वर्षों से लगातार राष्ट्रीय कृषि कर्मण अवार्ड मिल रहे हैं। प्रमुख सचिव डॉ. राजौरा ने बताया कि मध्यप्रदेश देश में दलहन, तिलहन, चना, मसूर, सोयाबीन, अमरूद, टमाटर और लहसुन उत्पादन में प्रथम स्थान पर है। गेहूँ , अरहर, सरसों, आंवला, संतरा, मटर और धनिया उत्पादन में दूसरे स्थान पर है। मध्यप्रदेश का वर्ष 2004-05 में कृषि उत्पादन 2.14 करोड़ मीट्रिक टन था जो वर्ष 2016-17 में बढ़कर 5.44 करोड़ मीट्रिक टन हो गया है। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश में किसानों की समस्याओं के समाधान तथा कृषि क्षेत्र के विकास के लिये डॉ. स्वामी नाथन आयोग की अनुशंसाओं के क्रियान्वयन को राज्य सरकार ने प्राथमिकता प्रदान की है। किसानों के हित के लिये मध्यप्रदेश में कृषि केबिनेट का गठन किया गया है। डॉ. राजौरा ने बताया कि देश में पहली बार भावान्तर भुगतान योजना सोयाबीन, मुंगफली, तिल, रामतिल, मक्का, मूंग, उड़द और अरहर की फसलों के लिये लागू की गई है। इस योजना में पोर्टल पर किसानों का पंजीयन किया गया है। प्रदेश के 16 लाख से अधिक किसानों ने विभिन्न फसलों का इस योजना में पंजीयन करवाया है। उन्होंने बताया कि किसानों का नि:शुल्क पंजीयन 11 सितम्बर से 15 अक्टूबर तक किया गया। मध्यप्रदेश की कृषि उपज मंडियों में फसलों की आवक शुरू हो गई है। किसानों के बैंक खाते में न्यूनतम समर्थन मूल्य तथा घोषित मंडियों की मॉडल विक्रय दल के अन्तर की राशि जमा की जा रही है।
पत्रकारों ने जनजातीय संग्रहालय एवं पुरातत्व संग्रहालय देखा
पत्रकारों के दल ने संस्कृति विभाग के जनजातीय संग्रहालय, पुंरातत्व विभाग के राज्य संग्रहालय और शौर्य स्मारक का भी भ्रमण किया। इस अवसर पर बताया गया कि भौगोलिक रूप से मध्यप्रदेश की भारत के नक्शे में केन्द्रीय स्थिति है। मध्यप्रदेश की सीमायें पाँच राज्यों को स्पर्श करती हैं। मध्य्रप्रदेश की जनजातीय संस्कृति में इन राज्यों की झलक स्वष्ट देखने को मिलती है। संग्रहालय में आदिवासी संस्कारों में जीवन के विभिन्न चरणों रहन सहन, त्यौहारों और विवाह जैसी रस्मों को आकर्षक ढंग से प्रस्तुत किया गया है। संग्रहालय की स्थापना का उद्देश्य आदिवासी समाज को समग्रता से देखने और उनकी जीवन को समझने की कोशिश करना है। महाराष्ट्र के पत्रकारों के दल ने पुरातत्व विभाग के राज्य संग्रहालय का भी भ्रमण किया। संग्रहालय प्रभारी ने बताया कि संग्रहालय में 16 गैलरी हैं। राज्य संग्रहालय का निर्माण 12 करोड़ रूपये की लागत से किया गया है। संग्रहालय की गैलरी में प्रौगेतिहासिक एवं जीवाश्म, उत्खनित सामग्री, धातु प्रतिमा, अभिलेख, प्रतिमाओं, रॉयल कलेक्शन, टेक्सटाईल, स्वाधीतना संग्राम, डाक टिकिट, आफ्टोग्राफस, पांडुलिपियां, लघुरंग चित्रों, मुद्राओं, अस्त्र-शस्त्र आदि को सलीके से प्रदर्शित किया गया है।


aaलुकास-न्यूले, जर्मनी के सहयोग से क्रिस्प में खुली इलेक्ट्रिकल एण्ड इलेक्ट्रॉनिक्स लैब


30 October 2017

लुकास-न्यूले, जर्मनी एवं एचआरवेयर कंसल्टिंग सर्विसेस, यूएई के सहयोग से क्रिस्प में आधुनिक इलेक्ट्रिकल एवं इलेक्ट्रानिक्स लैब की स्थापना की गई है। तकनीकी शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने इस लैब का शुभारंभ किया। लैब में इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स, मेकाट्रॉनिक्स, टेली-कम्युनिकेशन और ऑटोमेशन के संबंध में प्रशिक्षण देने के साथ ही परियोजनाएँ भी बनाई जाएंगी। श्री जोशी ने कहा कि जर्मन ट्रेनिंग मॉड्यूल का सरलीकरण करें जिससे यहाँ के बच्चे बेहतर प्रशिक्षण ले सकें। उन्होंने कहा कि जर्मनी का भारत से स्वतंत्रता संग्राम के समय से संबंध रहा है। श्री जोशी ने कहा कि जर्मन तकनीक का अधिक से अधिक लाभ लेने के लिए प्रस्ताव तैयार करें। प्रमुख सचिव, तकनीकी शिक्षा श्री संजय बंधोपाध्याय ने कहा कि युवाओं का स्किल डेव्हलपमेंट सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री कौशल संवर्धन योजना और कौशल्या योजना में 4 लाख 50 हजार युवक-युवतियों को प्रशिक्षण देने का लक्ष्य है। श्री बंदोपाध्याय ने कहा कि विभिन्न कम्पनियों के साथ फ्लेक्सी एमओयू किए गये हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश के बेहतर माहौल का लाभ जर्मनी को भी मिलेगा। लुकास-न्यूले के मैनेजिंग डॉयरेक्टर श्री क्रिश्चियन स्टैब श्मिट ने प्रजेंटेशन के माध्यम से लैब की कार्य-प्रणाली बताई। उन्होंने कहा कि लैब में प्रशिक्षण की आधुनिकतम तकनीकों का उपयोग किया जाएगा। ट्रेनिंग के दौरान प्रशिक्षणार्थियों की सुरक्षा पर भी पूरा ध्यान दिया जाएगा। उन्हें हर स्तर की ट्रेनिंग दी जाएगी। क्रिस्प के सीईओ श्री मुकेश शर्मा ने बताया कि लैब की स्थापना का उद्देश्य प्रदेश में तकनीकी, व्यावसायिक और उन्नत शिक्षा से संबंधित गुणवत्तापूर्ण प्रशिक्षण देना है। लैब इंजीनियरिंग और तकनीकी प्रशिक्षण के क्षेत्र में शोध क्षमता बढ़ाने में मदद करेगी। एचआरवेयर के कंसलटेंट श्री शहजाद खान ने भी विचार व्यक्त किए।


aaअब तक 5 करोड़ से अधिक ऑनलाइन आवेदन पर दी नागरिक सेवाएँ


30 October 2017

नागरिकों को समय पर सेवाएँ उपलब्ध कराना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। 'मध्यप्रदेश लोक सेवा प्रदाय की गारंटी अधिनियम'' का क्रियान्वयन राज्य सरकार की अभिनव पहल है। सुशासन को आगे बढ़ाने वाले अधिनियम के तहत राज्य शासन के 42 विभागों की 372 सेवाएँ नागरिकों को उपलब्ध करवाई जा रही हैं। इसके लिए प्रदेश में 413 लोक सेवा केन्द्र और उनसे जुड़े 23 हजार एम.पी. ऑनलाइन के कियोस्क नागरिकों को सेवाएँ उपलब्ध करा रहे हैं। अधिनियम के जरिए अब तक 5 करोड़ से अधिक ऑनलाइन आवेदन दर्ज कर नागरिक सेवाएँ प्रदान की जा चुकी हैं। अधिनियम के प्रभावी क्रियान्वयन एवं बेहतर मॉनीटरिंग के लिए लोक सेवा प्रबंधन विभाग द्वारा पृथक से डाटा एनालिटिक्स टीम स्थापित कर डेश-बोर्ड तैयार करवाया गया है। सेवाओं के ऑनलाइन जारी किये जाने वाले प्रमाण-पत्रों की डिजीटल हस्ताक्षरित रिपॉजिटरी तैयार की गयी है। इससे नागरिक भविष्य में आवश्यकता पड़ने पर पोर्टल से प्रमाण-पत्र डाउनलोड कर सकता है।
12 हजार से अधिक अधिकारियों के डिजीटल हस्ताक्षर-
डिजिटल हस्ताक्षरित सेवा प्रदान करने के उद्देश्य से प्रदेश के लगभग 12 हजार से अधिक अधिकारियों के डिजीटल हस्ताक्षर बनवाए गए हैं। वर्ष 2014 से प्रदेश में अभियान चलाया जाकर अनुसूचित जाति, जनजाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग के स्कूली छात्र-छात्राओं के 1 करोड़ 30 लाख से भी अधिक रंगीन लेमिनेटेड डिजीटल हस्ताक्षरित जाति प्रमाण-पत्र का नि:शुल्क प्रदाय किया गया। अधिनियम में अधिसूचित विभागों के जिला एवं ब्लाक स्तर तक के कार्यालय में स्वान (SWAN) के माध्यम से फ्री इंटरनेट सुविधा तथा राजस्व कार्यालयों में कम्प्यूटर/हार्डवेयर उपलब्ध करवाये गये हैं। विभाग द्वारा वर्ल्ड बैंक द्वारा पोषित MPCARS परियोजना संचालित की जा रही है। इसके अंतर्गत विभिन्न विभागों के लिए सेवा प्रदाय सरलीकरण (जीपीआर), डाटा ऐनालिसिस एवं ऑफिस ऑटोमेशन जैसे महत्वपूर्ण काम किये जा रहे हैं। सरकार और प्रशासन में नागरिकों की सक्रिय भागीदारी के लिए भारत सरकार द्वारा प्रारंभ किये गये My Gov पोर्टल की तर्ज पर मध्यप्रदेश में भी mp.my.gov पोर्टल राज्य लोक सेवा अभिकरण के अंतर्गत संचालित किया जा रहा है। सी.एम. हेल्पलाइन और समाधान ऑनलाइन के जरिए नागरिकों की समस्याओं को सुलझाने की सघन मॉनीटरिंग की जा रही है। सी.एम. हेल्पलाइन में जिलों और विभागों के रैकिंग का नया प्रयोग किया जा रहा है, जिससे विभिन्न शासकीय एजेंसियों द्वारा दी गई सेवाओं का स्तर ऊँचा बना रहे। अधिक जानकारी के लिए पोर्टल www.mp.edistrict.gov.in पर विजिट कर सकते हैं।


aaभारत-अमेरिका संबंध विकास और विश्व शांति के लिये महत्वपूर्ण : मुख्यमंत्री श्री चौहान


29 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति श्री डोनाल्ड ट्रंप के परस्पर सहयोग से भारत-अमेरिका के संबंध प्रगाढ़ हुए हैं। दोनों देशों के संबंध न सिर्फ विकास के लिये बल्कि विश्व शांति के लिये भी महत्वपूर्ण होंगे। श्री चौहान ने अमेरिका प्रवास से लौटने पर स्टेट हेंगर पर मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि कि सदी के महान चिंतक स्वर्गीय पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जन्म शताब्दी वर्ष में एकात्म मानववाद की प्रासंगिकता पर व्याख्यान के लिये भारतीय दूतावास द्वारा उन्हें आमंत्रित किया गया था। उन्होने कहा कि एकात्म मानववाद की प्रासंगिता को दुनिया स्वीकार कर रही है। अब दुनिया में एकात्म मानववाद का विचार ही आशा का केन्द्र है। बाकी विचारधाराएं असफल और अप्रासंगिक हो गई हैं। श्री चौहान ने बताया कि उन्होने अप्रवासी भारतीयों को भारत और मध्यप्रदेश के अभूतपूर्व विकास के संबंध में जानकारी दी। उन्होने कहा कि 'फ्रेंडस आफ मध्यप्रदेश' एक मजबूत मंच बन गया है। मध्यप्रदेश से बड़ी संख्या में अप्रवासी भारतीय अमेरिका में महत्वपूर्ण पदों पर कार्यरत हैं। सबके आग्रह पर पिछले साल 'फ्रेंडस आफ मध्यप्रदेश' का गठन किया गया था। इसके माध्यम से अमेरिका में मध्यप्रदेश के बारे में सकारात्मक राय बनाने में मदद मिली है। अब इसकी गतिविधियों का विस्तार हो रहा है। उन्होने बताया कि अमेरिका में बसे मध्यप्रदेश के लोगों की मांग है कि इंदौर और भोपाल से इंटरनेशनल हवाई उड़ान शुरू होना चाहिये। श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश की सकारात्मक छवि निर्माण के लिये 'फ्रेंडस आफ मध्यप्रदेश' महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। श्री चौहान ने कहा कि कोलंबिया के चार सौ डाक्टर्स की टीम मध्यप्रदेश आने के लिये तैयार है। उन्होने बताया कि थैलीसीमिया के मरीज प्रदेश में ज्यादा हैं। इस बीमारी का इलाज महंगा होता है क्योंकि बोनमेरो ट्रांसप्लांट मंहगा होता है। उन्होंने बताया कि इसके उपचार के लिये एम वाय अस्पताल इंदौर में सभी व्यवस्थाएं पूरी की जा रही हैं। आगामी अप्रैल- मई माह में ऑपरेशन भी शुरू हो जायेंगे। अभी डॉक्टर्स अमेरिका में प्रशिक्षण ले रहे हैं। इसी प्रकार कैंसर के इलाज के लिये भी प्रस्ताव मिले हैं। उन्होंने कहा कि अप्रवासी भारतीय स्वास्थ्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सहयोग करना चाहते हैं। अप्रवासी भारतीयों की दूसरी पीढ़ी के बच्चे अपनी संस्कृति से जुड़ना चाहते हैं। इसके लिये 4 और 5 जनवरी को इंदौर में 'फ्रेंड्स ऑफ एमपी' की बैठक आयोजित होगी। इसमें मध्यप्रदेश में परस्पर सहयोग के क्षेत्रों पर विचार किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि जीएसआईटीएस इंदौर में इन्क्यूबेशन एवं उदयमिता केन्द्र प्रारंभ किया जाएगा। इसमें न्यूयार्क विश्वविद्यालय का टण्डन स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग सहयोग करेगा। उन्होंने बताया कि यूएस इंडिया बिजनेस काउंसिल का प्रतिनिधि मंडल नवम्बर माह में मध्यप्रदेश आएगा। यह दल खाद्य प्रसंस्करण, रक्षा, आटो मोबाइल और टेक्सटाइल के क्षेत्र में निवेश की संभावनाओं पर चर्चा करेगा।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान का अमेरिका यात्रा से लौटने पर स्वागत


29 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का अमेरिका यात्रा से लौटने पर आज स्टेट हेंगर पर उत्साहपूर्वक स्वागत किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान विगत 22 से 28 अक्टूबर तक अमेरिका प्रवास के बाद आज शाम भोपाल पहुँचे। आज स्टेट हेंगर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान का स्वागत करने वालों में वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया, कृषि मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस, लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह, गृह एवं परिवहन मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह, नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह, राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया, उद्यानिकी राज्यमंत्री श्री सूर्यप्रकाश मीणा, सांसद एवं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री नंदकुमार सिंह चौहान, सांसद श्री प्रभात झा, महापौर श्री आलोक शर्मा, भोपाल प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री ओम यादव, निगम-मंडलों के अध्यक्ष, विधायक, पदाधिकारी, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी, बड़ी संख्या में कार्यकर्ता और नागरिक उपस्थित थे।


aaभारतीयता का अहसास है खादी वस्त्र


29 October 2017

कुटीर एवं ग्रामोद्योग मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य ने कहा है कि खादी के वस्त्र ईको फ्रेण्डली होने के साथ भारतीयता का अहसास कराते हैं। श्री आर्य ने यह बात आज भोपाल में केन्द्रीय खादी और ग्रामोद्योग आयोग द्वारा आरंभ किए गये खादी इण्डिया लाउंज के उद्घाटन अवसर पर कही। लाउंज का शुभारंभ केन्द्रीय खादी ग्रामोद्योग के अध्यक्ष श्री विनोद कुमार सक्सेना ने किया। महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस, मध्यप्रदेश खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष श्री सूरज सिंह आर्य और सदस्य श्री जयप्रकाश तोमर भी उपस्थित थे। खादी इण्डिया लाउंज में पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, उड़ीसा, राजस्थान आदि विभिन्न राज्यों के विशिष्ट खादी एवं खादी सिल्क के वस्त्र, औषधियाँ और अन्य हर्बल उत्पाद भी बिक्री के लिए उपलब्ध रहेंगे। लाउंज में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय ड्रेस-डिजायनरों द्वारा तैयार शर्ट, लेडीज गाउन, स्कर्ट, कुर्ते, जैकेट और खादी डेनिम की जीन्स भी मिलेगी। समारोह के दौरान खादी वस्त्रों पर आधारित फैशन-शो भी हुआ, जिसके शुभारंभ पर श्री विनोद सक्सेना, श्रीमती चिटनिस, श्री अंतर सिंह आर्य ने भी रेम्प वॉक किया। इस अवसर पर खादी वस्त्रों और हर्बल उत्पादों की प्रदर्शनी के साथ परिधान उत्सव (फैशन-शो) में खादी वस्त्रों की आकर्षक प्रस्तुति भी हुई।


aaराज्य मंत्री श्री पाठक ने किया फ्लाई ओवर ब्रिज का भूमि-पूजन


28 October 2017

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री संजय सत्येन्द्र पाठक ने शुक्रवार को अनूपपुर जिला मुख्यालय पर 2103.95 लाख रूपये लागत ओव्‍हर ब्रिज का भूमि-पूजन किया। उन्होंने कहा कि जन-भावनाओं के अनुरूप फ्लाई ओव्‍हर ब्रिज का निर्माण तय समय अवधि मई 2019 तक पूरा होगा। राज्य मंत्री श्री पाठक ने यहां जिला पर्यटन संवर्धन समिति की बैठक भी ली। बैठक में राज्य मंत्री ने जिले में व्यवस्थित रूप से पर्यटन क्षेत्रों का विकास सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि इन प्रयासों से स्थानीय लोगों को स्व-रोजगार मिलेगा और आदिवासी संस्कृति के संरक्षण एवं लोगों के जीवन स्तर को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी। बैठक में विधायक श्री रामलाल रोतेल, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती रूपमती सिंह सहित अनेक जन-प्रतिनिधि एवं प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे।


aaट्रेवल मार्ट से टूरिज्म की गतिविधियों को मिलेगी नई दिशा: राज्य मंत्री श्री पटवा


28 October 2017

पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा ने आज यहां एम.पी. ट्रेवल मार्ट के चौथे सोपान का शुभारंभ करते हुए कहा कि इस प्रकार के प्रयासों से मध्यप्रदेश में पर्यटन विकास को राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर पर नई पहचान मिलेगी। साथ ही, पर्यटन से जुड़ी गतिविधियों में वृद्धि होगी और रोजगार के अवसर बढ़ेगे। पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष श्री तपन भौमिक इस अवसर पर विशेष रूप से मौजूद थे। राज्य मंत्री श्री पटवा ने बताया कि ट्रेवल मार्ट में बिहार, गुजरात, कर्नाटक एवं मणिपुर राज्य ने पर्यटन क्षेत्र के अपनी-अपनी गतिविधियों को प्रद‍र्शित किया है। उन्होंने कहा कि इससे मध्यप्रदेश में पर्यटन उद्योग की संभावनाएँ, सैलानियों की आवाजाही में इजाफा होगा। पर्यटन क्षेत्र में निवेश और अंतर्क्षेत्रीय पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। होटर्ल्स और हास्पिटेलिटी जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों को ट्रेवल मार्ट से नई दिशा मिलेगी। राज्य मंत्री ने प्रदेश को मिले दस नेशनल आवर्ड को महत्वपूर्ण उपलब्धि बताया। उन्होंने कहा कि राज्य में विदेशी पर्यटकों की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम के लिये विभाग प्रतिबद्ध है। श्री पटवा ने श्री गौर कांजीलाल की पुस्तक 'एवरी वन्स बिजनिस' का विमोचन भी किया।राज्य मंत्री श्री पटवा ने ट्रेवल मार्ट में लगाये गये 76 विभिन्न स्टॉलों का अवलोकन किया। कार्यक्रम में पर्यटन विभाग के सचिव श्री हरि रंजन राव ने ट्रेवल मार्ट की गतिविधियों को रेखांकित किया। ट्रेवल मार्ट में कल शाम तक वन-टू-वन बिजनेस मीटिंग और बी-टू-बी मीटिंग तथा बी-टू-सी सहित विभिन्न सत्र होंगे।


aaअमेरिका प्रवास से मुख्यमंत्री श्री चौहान 29 अक्टूबर को आएंगे स्वदेश


28 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान एक सप्ताह के अमेरिका प्रवास के बाद 29 अक्टूबर को स्वदेश आ रहे हैं। वे दोपहर बाद मुम्बई पहुंचेंगे और मुम्बई से शासकीय वायुयान से शाम पांच बजे तक भोपाल आयेंगे। मुख्यमंत्री की अमेरिका यात्रा से अप्रवासी भारतीयों का मध्यप्रदेश से रिश्ता मजबूत हुआ है। साथ ही कई उद्योग समूहों और कंपनियों ने मध्यप्रदेश की प्रगति की सराहना करते हुए यहां निवेश करने की इच्छा जताई है। उल्लेखनीय है कि श्री चौहान को पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जन्म-शताब्दी के अवसर पर भारतीय दूतावास के सहयोग से फाउंडेशन फॉर इंडिया एण्ड इंडिया डायसपोरा स्ट्डीज यूएसए द्वारा पं. दीनदयाल उपाध्याय फोरम का शुभारंभ सत्र को संबोधित करने के लिये विशेष रूप से आमंत्रित किया गया था। वे 22 अक्टूबर को वाशिंगटन डीसी अमेरिका पहुंचे थे। इस दौरान श्री चौहान ने मध्यप्रदेश में निवेश करने की इच्छुक कई कंपनियों से भी चर्चा की। यू.एस. इंडिया बिजनेस स्ट्रैटेजिक फोरम के सौजन्य से मध्यप्रदेश में निवेश में रूचि लेने वाली उद्योगपतियों और उद्योग समूहों के प्रतिनिधियों से भी चर्चा की और उन्हें प्रदेश आमंत्रित किया। दीनदयाल उपाध्याय फोरम के शुभारंभ सत्र में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि विश्व समाज में मनुष्य की आंतरिक शक्ति और शांति छिन्न- भिन्न हो गई है। ऐसी स्थिति में पण्डित दीनदयाल उपाध्याय का एकात्म मानववाद और ज्यादा प्रासंगिक हो गया है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में गरीबों का उत्थान करने के लिये बनाई गई रणनीतियां और विकास कार्यक्रम पण्डित दीनदयाल उपाध्याय के एकात्म मानववाद के दर्शन से प्रेरित हैं।
महिला सशक्तीकरण की सराहना-
मध्यप्रदेश में महिलाओं को सशक्त बनाने के किये गये प्रयासों को रेखांकित करते हुए श्री चौहान ने कहा कि अब बेटियों को बोझ नहीं माना जाता। लोगों की मानसिकता बदली है। महिलाओं को अधिकार सम्पन्न बनाने में मध्यप्रदेश बहुत आगे निकल गया है। यूनाईटेड स्टेट कांग्रेस की पहली हिन्दू सदस्य सुश्री तुलसी गबार्ड ने महिला सशक्तीकरण के नवाचारी प्रयासों के लिये मुख्यमंत्री श्री चौहान की सराहना की। उन्होंने विश्व के सबसे बड़े नदी संरक्षण अभियान नर्मदा सेवा यात्रा के संबंध में भी अप्रवासी भारतीयों को बताया और इसके महत्व पर चर्चा की। वाशिंगटन में अमेरिका भारत रणनीतिक सहभागिता फोरम के अंतर्गत आयोजित बिजनेस सेमीनार में श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश की नई औद्योगिक नीति पूरी तरह से उद्योग मित्र है। मुख्यमंत्री ने कहा कि औद्यागिक विकास के लिये जरूरी सभी अधोसंरचनाएं उपलब्ध हैं। किसानों की आय को दो गुनी करने की रणनीति अमल में लाई जा रही है। इसी बीच श्री चौहान न्यू जेरेसी स्थित श्री स्वामीनारायण मंदिर पहुंचे और मध्यप्रदेश की सुख शांति और समृद्धि के लिये प्रार्थना की। श्री चौहान ने न्यूयार्क विश्वविद्यालय के ब्रूकलीन परिसर में टंडन स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग के नवाचार और उद्यमिता इन्क्यूबेशन सेंटर का भ्रमण किया। उन्होंने ऐसा ही इन्क्यूबेशन सेंटर मध्यप्रदेश के विश्वविद्यालयों के परिसर में स्थापित करने की संभावनाओं पर भी चर्चा की और न्यूयार्क विश्वविद्यालय से ज्ञान एवं प्रौद्योगिकी उपलब्ध कराने में सहयोगी की भूमिका निभाने का भी आग्रह किया।
4- 5 जनवरी को 'फ्रेंडस ऑफ एमपी' समिट-
मुख्यमंत्री ने कांस्यूलेट जनरल आफ इंडिया न्यूयार्क में आयोजित 'फ्रेंडस ऑफ एमपी' सेमीनार में कहा कि प्रदेश में चार और पांच जनवरी 2018 को 'फ्रेंडस ऑफ एमपी' समिट का आयोजन किया जायेगा। उन्होंने 'फ्रेंडस ऑफ एमपी' फोरम की गतिविधियों को आगे बढ़ाने में योगदान देने के लिये न्यूयार्क और न्यू जेरेसी क्षेत्र में निवासरत अप्रवासी भारतीयों का अभिनंदन किया। इसके अलावा उन्होने प्रदेश के विकास को और गति देने के लिये विशेषज्ञों, न्यूयार्क होटल एसोसियेशन के मुख्यकार्यपालन अधिकारी श्री विजय दण्डपानी, एमआईटी के प्रोफेसर श्री गुरूमूर्ति कल्याणराम और कोलंबिया विश्वविद्यालय के प्रतिनिधिमंडल से भी चर्चा की।


aaअप्रवासी भारतीयों ने अपनी प्रतिभा से हासिल किया सम्मान : मुख्यमंत्री श्री चौहान


27 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अप्रवासी भारतीयों ने अपनी प्रतिभा, लगन और परिश्रम से अमेरिका में सम्मान हासिल किया है। उन्होंने कहा है कि वे अमेरिका में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाते हुये अपनी परम्पराओं, संस्कृति, जीवन मूल्यों से जुड़े लोगों को नहीं भूले। श्री चौहान कांस्यूलेट जनरल ऑफ इण्डिया न्यूयार्क में फ्रेण्ड्स ऑफ एम पी सेमिनार को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश के विकास परिदृश्य की चर्चा करते हुये जब बताया कि कैसे मध्यप्रदेश ने हर क्षेत्र में पिछले एक दशक में अभूतपूर्व प्रगति की है, तो सेमिनार में उपस्थित ''फ्रेण्ड्स ऑफ एम पी'' के सदस्यों ने तालियों की गड़गड़ाहट से श्री चौहान का अभिनंदन किया और विकास की सराहना की। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत के प्रति आज विश्व में सम्मान का भाव है। जैसा भारत हम चाहते थे वैसा वैभवशाली, गौरवशाली, समृद्ध और विकसित भारत आज प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देखने को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि देश तेजी से आगे बढ़ रहा है। मध्यप्रदेश इसमें भरपूर योगदान दे रहा है। श्री चौहान ने कहा कि पिछले एक दशक में गांवों का सड़कों से परस्पर जुड़ाव हुआ है जिसके कारण गांव और शहर दोनों की अर्थ-व्यवस्थायें मजबूत हुई हैं। उन्होंने कहा कि कई सड़कें गुणवत्ता के वैश्विक मापदण्डों पर उत्कृष्ट मानी गई हैं। एक दशक पहले सड़क नेटवर्क का बुरा हाल था। उन्होंने कहा कि बिजली उत्पादन में मध्यप्रदेश पूरी तरह आत्म-निर्भर बन गया है। एक दशक पहले विद्युत उत्पादन 2900 मेगावॉट था जो आज बढ़कर बीस हजार मेगावॉट हो गया है। मध्यप्रदेश आज पॉवर सरप्लस राज्य बन गया है। उन्होंने कहा कि पवन ऊर्जा, सौर ऊर्जा और जल विद्युत ऊर्जा प्रत्येक क्षेत्र में बिजली उत्पादन की संभावनाओं का दोहन किया गया है। सिंचाई का क्षेत्र बढ़कर 40 लाख हेक्टेयर पहुँच गया है और हर साल पाँच लाख हेक्टेयर की बढ़ोतरी की जा रही है। कृषि के क्षेत्र में पिछले पाँच सालों से बीस प्रतिशत की कृषि विकास दर के साथ अभूतपूर्व उपलब्धि हासिल की है। नये पर्यटन स्थलों का विकास किया गया है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने फ्रेण्ड्स ऑफ एम पी फोरम की गतिविधियों को आगे बढ़ाने में योगदान देने के लिये न्यूयार्क और न्यू जेरेसी क्षेत्र में निवासरत अप्रवासी भारतीयों का अभिनंदन किया। इनमें श्री राज बंसल, श्री राजेश मित्तल, श्री राजीव गोयल, श्री पंकज गुप्ता, श्री अनुपम सरवाइकर, श्री निपुन जोशी, श्री संदीप जैन, श्री अविनाश झंवर, श्री जितेन्द्र मुछाल और श्री सुनील नायक शामिल हैं। श्री चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश से भावनात्मक जुड़ाव और लगाव रखने वाले अप्रवासी भारतीय प्रदेश को आगे बढ़ाने में सहयोग दे रहे हैं। मुख्यमंत्री ने प्रदेश के विकास को और गति देने के लिये कई विशेषज्ञों से भी चर्चा की। इनमें मुख्य रूप से न्यूयार्क होटल एसोसियेशन के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री विजय दण्डपानी, एमआईटी के प्रोफेसर श्री गुरूमूर्ति कल्याणराम और कोलंबिया विश्वविद्यालय का प्रतिनिधि-मंडल शामिल हैं।


aaबेटी के शिक्षित होने से परिवार और समाज शिक्षित होगा


27 October 2017

वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया ने कहा है कि बेटी के शिक्षित होने से परिवार और समाज शिक्षित होता है। इसलिये हम सबका दायित्व है कि समाज की प्रत्येक बेटी शिक्षित हो। उन्होंने इसके लिए स्वयंसेवी संगठनों से आगे आकर कार्य करने के लिए कहा। वित्त मंत्री आज दमोह में क्षत्रिय कलचुरी समाज के भगवान राजराजेश्वर सहस्रबाहु अर्जुन जयंती समारोह को संबोधित कर रहे थे। वित्त मंत्री श्री मलैया ने कहा कि राज्य सरकार ने बालिकाओं की शिक्षा पर विशेष ध्यान दिया है। इस योजना की प्रोत्साहित करने के लिये 'गाँव की बेटी' योजना चलाई जा रही है। वित्त मंत्री ने कहा कि धन के अभाव में अब प्रदेश के किसी भी प्रतिभाशाली बच्चे की पढ़ाई नहीं रुकेगी। राज्य सरकार ने इसके लिए एक हजार करोड़ रुपये का विशेष कोष भी बनाया है। उन्होंने समाज द्वारा निर्मित किए जा रहे मंदिर निर्माण में अपनी ओर से सहयोग देने का आश्वासन दिया। कार्यक्रम को सांसद श्री प्रहलाद पटेल और विधायक श्री प्रताप सिंह ने भी संबोधित किया।


aaहरसूद पॉलीटेक्निक कॉलेज को सर्वश्रेष्ठ बनायेंगे


27 October 2017

स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. विजय शाह और तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री दीपक जोशी ने खण्डवा जिले के हरसूद में 32 करोड़ की लागत से नव-निर्मित पॉलीटेक्निक कॉलेज भवन का लोकार्पण किया। श्री जोशी ने कहा कि हरसूद पॉलीटेक्निक कॉलेज को सर्वश्रेष्ठ कॉलेज बनायेंगे। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. शाह ने कहा कि आदिवासी वर्ग के विद्यार्थियों को इंजीनियरिंग की शिक्षा की शिक्षा के लिये एकलव्य इंजीनियरिंग कॉलेज स्थापित किये जायेंगे। उन्होंने मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना के बारे में भी जानकारी दी। तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री श्री जोशी ने कहा कि कॉलेज में खेल मैदान के लिये 10 करोड़ रूपये स्वीकृत किये जायेंगे। इसके साथ ही बॉक्सिंग, निशानेबॉजी, जिम्नेशियम और एथेलेटिक्स के लिये सुविधाएँ विकसित की जायेंगी। इस दौरान विधायक श्रीमती योगिता बोरकर एवं अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaदेश के नव-निर्माण के लिये अच्छी शिक्षा व्यवस्था पहली आवश्यकता


27 October 2017

राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग ने आज मंत्रालय में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिये प्रदेश में क्रियान्वित योजनाओं की समीक्षा की। आयोग के अध्यक्ष श्री नंद कुमार साय ने चर्चा के दौरान कहा कि प्रदेश में इन वर्गों के लिये प्राथमिक शिक्षा के स्तर को बेहतर बनाना होगा। इसके लिये अधिसूचित क्षेत्रों की शालाओं में प्रशिक्षित शिक्षकों की पर्याप्त संख्या सुनिश्चित करें। श्री साय ने कहा कि देश के नव-निर्माण के लिए अच्छी शिक्षा व्यवस्था उपलब्ध करवाना पहली आवश्यकता है। उन्होंने फर्जी जाति प्रमाण पत्रों की जांच के लिए उच्च स्तरीय समिति की नियमित बैठकें आयोजित करने के निर्देश दिए। श्री साय ने कहा कि अनुसूचित जनजाति वर्ग के युवाओं के लिये खेलकूद जैसी रचनात्मक गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाये। अनुसूचित जनजातीय कार्य राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने बैठक में बताया कि सरकार द्वारा कम साक्षरता वाले स्थानों का चयन कर वहाँ छात्रावासों का निर्माण करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि लीज पर खदान देते समय नियम और शर्तों में मजदूर वर्ग के स्वास्थ्य परीक्षण और मास्क के उपयोग को आवश्यक किया जायेगा। श्री आर्य ने कहा कि जनजातीय वर्ग के विद्यार्थियों के लिए सात दिवसीय कार्यक्रम तैयार किया जा रहा है। इस कार्यक्रम के जरिए अनुसूचित जनजाति वर्ग के बच्चे भारतीय संस्कृति एवं विभिन्न रचनात्मक गतिविधियों से जुड़ेंगे। आयोग की उपाध्यक्ष सुश्री अनुसुईया उइके ने कहा कि अनुसूचित जनजाति वर्ग के लोगों को पेंशन एवं हितग्राही मूलक योजनाओं का लाभ समय पर मिले। जनजातीय वर्ग के मामलों में संवेदनशीलता और मानवीय दृष्टिकोण से कार्यवाही की जाए। आयोग के सचिव श्री राघव चंद्रा ने कहा कि आयोग का मकसद हर-स्तर पर जनजातीय वर्ग का संरक्षण, उन्नयन और उनकी समस्याओं का निराकरण सुनिश्चित करना है। मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह ने कहा कि प्रदेश में अनुसूचित जनजाति वर्ग के विकास और कल्याण के लिए पूरी संवेदनशीलता के साथ योजनाएं क्रियान्वित की जा रही हैं। अनुसूचित जनजाति वर्ग के शिक्षकों की भर्ती के लिए बी.एड. और डी.एड. में रियायत देने का प्रस्ताव शासन के समक्ष विचाराधीन है। पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला ने कहा कि पुलिस के कार्यपालिक पदों में शासन के नियमों के तहत विशेष संर‍क्षित जनजातियों की सीधी भर्ती का प्रावधान नहीं है। इस संबंध में विशेष संरक्षित जनजातीय वर्गों को रियायत देने का प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा जाएगा। प्रमुख सचिव जनजातीय कार्य श्री एस एन मिश्रा ने राज्य शासन की जनजातीय लाभ की गतिविधियों के बारे में प्रस्तुतिकरण किया। बैठक में आयुक्त श्रीमती दीपाली रस्तोगी ने परिचयात्मक शुरुआत की। बैठक में कृषि उत्पादन आयुक्त श्री पी.सी. मीना, अपर मुख्य सचिव नर्मदा घाटी विकास श्री रजनीश वैश, अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री आर एस जुलानिया सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।


aaराष्ट्रीय लता मंगेशकर अलंकरण से गीत-संगीत क्षेत्र की तीन विभूतियाँ विभूषित


26 October 2017

वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया ने आज इंदौर में मध्यप्रदेश शासन के प्रतिष्ठित राष्ट्रीय लता मंगेशकर सम्मान अलंकरण से सुप्रसिद्ध गायिका सुश्री ऊषा खन्ना को वर्ष 2012, सुप्रसिद्ध गायक श्री उदित नारायण को वर्ष 2015 और सुप्रसिद्ध संगीतकार श्री अनु मलिक को वर्ष 2016 के लिए सम्मानित किया। अलंकरण समारोह की अध्यक्षता पर्यटन एवं संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री सुरेन्द्र पटवा ने की। श्री मलैया ने इस अवसर पर कहा कि गीत-संगीत को बढ़ावा देने के लिए स्थापित इस पुरस्कार से अब तक 28 विभूतियों को सम्मानित किया जा चुका है। सम्मानित हस्तियों के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए उन्होंने कहा कि यह अलंकरण समारोह हर वर्ष नियमित रूप से होना चाहिए। पर्यटन एवं संस्कृति राज्य मंत्री श्री पटवा ने कहा कि प्रदेश में प्रतिभाओं को निखरने का अवसर देने के लिए प्रतिभा खोज प्रतियोगिता आयोजित की जा रही है। श्री उदित नारायण ने कहा कि लता मंगेशकर के नाम से सम्मान मिलना माँ सरस्वती का आशीर्वाद मिलने के बराबर है। श्री अनु मलिक ने कहा कि लता मंगेशकर जी के नाम से स्थापित पुरस्कार अपने-आप में सबसे बड़ा सम्मान है। सुश्री ऊषा खन्ना ने कहा कि लता मंगेशकर के नाम से पुरस्कार मिलना मेरे लिए सबसे बड़ा आशीर्वाद है। महापौर श्रीमती मालिनी गौड़, विधायक श्री सुदर्शन गुप्ता, श्री रमेश मेंदोला और सुश्री ऊषा ठाकुर, इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री शंकर लालवानी, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कविता पाटीदार, संभागायुक्त और आयोजन समिति के अध्यक्ष श्री संजय दुबे और प्रमुख सचिव संस्कृति श्री मनोज श्रीवास्तव, भी मौजूद थे।
ख्यातिलब्ध कलाकार श्री सुदेश भोंसले ने दी रंगारंग प्रस्तुति-
अलंकरण समारोह में देश के जाने-माने गायक श्री सुदेश भोंसले ने अपने दल के साथ गीत-संगीत की सुमधुर प्रस्तुतियाँ देकर समाँ बाँधा। समारोह में बड़ी संख्या में कला एवं संगीत प्रेमी मौजूद थे।


aaराज्य सरकार की योजना के सफल क्रियान्वयन में दतिया बना उदाहरण : जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र


26 October 2017

जनसम्पर्क जल संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आज दतिया में बेटी-बचाओ-बेटी पढ़ाओ जागरूकता सप्ताह का समापन किया। डॉ. मिश्र ने कहा कि जहाँ नारी का सम्मान है, वहाँ देवताओं का वास है। उन्होंने स्मरण दिलवाया कि बेटी बचाओ अभियान की शुरूआत दतिया से हुई थी। अब दतिया जिले में लिंगानुपात में वृद्धि परिलक्षित होने लगी हुई है। मंत्री डॉ. मिश्र ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार बेटी बचाओ-बेटी-पढ़ाओ तथा महिला सशक्तिकरण के लिए निरंतर प्रयत्नशील है। निर्वाचित संस्थाओं में महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है। नौकरियों में कई जगह 50 प्रतिशत तक आरक्षण मिला है। इस अवसर पर श्री विक्रम सिंह बुन्देला, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती रजनी प्रजापति और अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


aaस्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट का लाभ उठाकर उज्जैन को बनाएं विश्व-स्तरीय शहर


26 October 2017

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट का लाभ उठाते हुए उज्जैन को विश्व-स्तरीय शहर बनाने के हरसंभव प्रयास करें। प्रोजेक्ट की गति तेज करते हुए गुणवत्तापूर्ण काम समय-सीमा में पूर्ण करें। नगरीय प्रशासन मंत्री श्रीमती माया सिंह ने यह बात आज उज्जैन में विभागीय गतिविधियों की समीक्षा करते हुए कही। श्रीमती सिंह ने कहा कि 3 माह पश्चात पुन: उज्जैन में बैठक कर स्मार्ट सिटी और अन्य गतिविधियों की समीक्षा की जाएगी। श्रीमती सिंह को स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट उज्जैन की जानकारी प्रजेंटेशन के माध्यम से दी गई। प्रजेंटेशन में बताया गया कि शहर के कुल 43 प्रोजेक्ट में से 18 पर कार्य शुरू कर दिया गया है। शहर के यातायात को वर्ष 2032 की परिस्थितियों के आधार पर योजनाबद्ध किया गया है। कलेक्टर ने बताया कि उज्जैन के सामाजिक न्याय परिसर में 1000 सीट का ऑडिटोरियम बनेगा और स्मार्ट मोबिलिटी पर 6 माह में कार्य शुरू होकर बस, फायर वाहन, ई-रिक्शा आदि का मॉनिटरिंग सिस्टम आरंभ हो जाएगा। कचरा वाहनों की सूचना के लिए मोबाइल अलर्ट भेजे जाएंगे। बैठक में सिंहस्थ-2016 के दौरान निर्मित परि-सम्पत्तियों के संधारण, प्रधानमंत्री आवास योजना, ग्रीन बिल्डिंग कांसेप्ट, निर्माणाधीन दिव्यांग पार्क, सेप्टिक मैनेजमेंट, हवाईपट्टी निर्माण आदि पर भी चर्चा की गई। महापौर श्रीमती मीना जोनवाल, विधायक डॉ. मोहन यादव, नगरीय प्रशासन के प्रमुख सचिव श्री मलय श्रीवास्तव, आयुक्त श्री विवेक अग्रवाल, यूडीए अध्यक्ष श्री जगदीश अग्रवाल भी बैठक में उपस्थित थे।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने छठ पूजा पर दी बधाई


26 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने लोगों को आरोग्य के देवता सूर्य की उपासना के पर्व छठ पूजा पर बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं। श्री चौहान ने शुभकामना संदेश में कहा कि छठ पर्व भारतीय ग्रामीण संस्कृति की आभा प्रदर्शित करता है। उन्होंने कहा कि छठ पूजा का सबसे महत्त्वपूर्ण पक्ष इसकी सादगी है। लोक आस्था का यह पर्व भक्ति और आध्यात्म से परिपूर्ण है तथा लोक जीवन में शालीनता का प्रसार करता है। श्री चौहान ने इस अवसर पर सभी लोगों के स्वस्थ्य जीवन की कामना की है।


aaराष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग ने लगायी पातालकोट के रातेड़ ग्राम में चौपाल


26 October 2017

राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के सभी सदस्य और अधिकारी छिन्दवाड़ा जिले के पातालकोट क्षेत्र में अनुसूचित जनजातियों के विकास और कल्याण के लिये किये जा रहे कार्यों के साथ उनकी समस्याओं के अध्ययन/समाधान के लिये पहुँचे। पातालकोट के रातेड़ ग्राम में आयोग ने चौपाल लगाकर विशेष पिछड़ी जनजाति भारिया के विकास एवं समस्याओं को जाना। आयोग के अध्यक्ष श्री नंदकुमार साय ने आयोग के समक्ष रखी गई समस्याओं की राज्य सरकार को जानकारी देकर शीघ्र निराकरण करवाने की बात कही। आयोग की उपाध्यक्ष सुश्री अनुसुईया उईके ने कहा कि जनजातियों के विकास एवं कल्याण संबंधी मांगों पर सकारात्मक कदम उठाया जायेगा। आयोग के सचिव श्री राघव चन्द्रा ने तत्काल पेयजल की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश पीएचई अधिकारी को दिये। प्रमुख सचिव श्री एस.एन. मिश्रा ने कहा कि वेतन भुगतान संबंधी समस्या का जल्द निदान होगा। कलेक्टर ने कहा कि पेंशन संबंधी प्रकरण एवं क्षेत्र की जनजातियों की अन्य समस्याओं का समाधान प्राथमिकता से किया जायेगा। आयोग ने भारिया जनजातियों द्वारा उठायी समस्याओं के समाधान का प्रतिवेदन भी मांगा है। इस अवसर पर आयोग के अन्य सदस्य श्री एच.के.डामोर, श्रीमती माया इवनाती, संयुक्त सचिव श्री ए.के.रथ और संचालक श्रीमती के.डी.बंसोर उपस्थित थे। जिला पंचायत की अध्यक्ष श्रीमती कांता ठाकुर और श्री उत्तम सिंह ठाकुर उपस्थित थे। आयोग द्वारा भारिया जनजाति के बुजुर्गो को कंबल का वितरण भी किया गया। रातेड़ चौपाल के पूर्व तामिया में सभा के दौरान आयोग के अध्यक्ष श्री साय ने कहा कि जनजातियों को स्वयं के विकास के लिये शिक्षा पर विशेष ध्यान देना होगा। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षकों की पदपूर्ति के प्रयास करने को कहा। साथ ही आदिवासियों की जमीन को गैरआदिवासियों को हस्तांतरित नहीं कर उसे सुरक्षित रखने की बात भी कहीं। श्री साय ने कहा कि जनजातियों के विकास के लिये किये जा रहे प्रयास की निरंतर समीक्षा की जायेगी।
आयोग का दौरा
राष्ट्रीय अनुसूचित जनजातीय आयोग 25 से 28 अक्टूबर तक राज्य के भ्रमण पर है। आयोग द्वारा 25 अक्टूबर को छिंदवाड़ा एवं तामिया के ग्रामों और आदिवासी संस्थाओं का भ्रमण एवं निरिक्षण किया गया। दिनांक 26 अक्टूबर को आयोग होशंगाबाद जिलें के भ्रमण पर है। आयोग ने पचमढ़ी के समीप स्थानीय लोगों से मुलाकात की। दिनांक 27 अक्टूबर की सुबह 9 से 10 बजे होटल कोटयार्ट मेरियट में आयोग से आदिवासी संगठन एवं जन-प्रतिनिधि मुलाकात कर सकेंगे। आयोग की सुबह 11 बजे मंत्रालय में राज्य सरकार के अधिकारियों के साथ बैठक नियत है। आयोग के अध्यक्ष श्री नंदकुमार साय, उपाध्यक्ष सुश्री अनुसुईया उइके, सचिव श्री राघव चंद्रा सहित तीन अन्य सदस्य मध्यप्रदेश भ्रमण पर है।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने न्यूयार्क विश्वविद्यालय परिसर स्थित इन्क्यूबेशन सेंटर का किया भ्रमण


26 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अमेरिका प्रवास के चौथे दिन न्यूयार्क विश्वविद्यालय के ब्रूकलीन परिसर में टंडन स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग के नवाचार और उद्यमिता इन्क्यूबेशन सेंटर का भ्रमण किया। उन्होंने ऐसा ही इन्क्यूबेशन सेंटर मध्यप्रदेश के विश्वविद्यालयों के परिसर में स्थापित करने की संभावनाओं पर भी चर्चा की और न्यूयार्क विश्वविद्यालय से ज्ञान एवं प्रौद्योगिकी उपलब्ध कराने में सहयोगी की भूमिका निभाने का आग्रह किया। श्री चौहान ने मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना की चर्चा करते हुये कहा कि युवाओं में उद्यमिता की भावना का विकास करने के लिये यह योजना बनाई गयी है। इसका लाभ लेकर युवा उद्यमी अपने ज्ञान और कला कौशल का उपयोग बेहतर तरीके से कर पायेंगे। उन्होंने बताया कि इस योजना के माध्यम से मध्यप्रदेश सरकार युवाओं को अपना रोजगार स्थापित करने के लिये प्रेरित कर रही है। उन्हें बैंक से दो करोड़ रुपये तक लोन लेने पर गारंटी सरकार दे रही है। श्री चौहान ने बताया कि इन प्रयासों के अलावा एक सौ करोड़ रूपये की राशि से केपीटल बेंचर फंड स्थापित किया गया है। इसके माध्यम से नवाचारी प्रयासों को धनराशि उपलब्ध करायी जाती है। मुख्यमंत्री ने इन्क्यूबेशन सेंटर की गतिविधियों और कार्य-प्रणाली की जानकारी ली। उन्होंने फ्यूचर लेब और मेकर स्पेस में काम कर रहे उद्यमियों, प्रशिक्षकों एवं विद्यार्थियों से चर्चा की। केन्द्र के संचालक श्री श्रीनिवासन ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया और उन्हें इन्क्यूबेशन सेंटर की गतिविधियों की जानकारी दी।


aaप्रदेश में 4 और 5 जनवरी 2018 को "फ्रेंड्स ऑफ एमपी" समिट


26 October 2017

प्रदेश में चार और पांच जनवरी 2018 को 'फ्रेंड्स ऑफ एमपी' समिट का आयोजन किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अमेरिका प्रवास के दौरान कांस्यूलेट जनरल ऑफ इंडिया न्यूयार्क में अपने संबोधन में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि 'फ्रेंड्स ऑफ एम.पी.' एक ऐसा मंच है, जो मध्यप्रदेश के विकास का संकल्प लेकर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नए भारत के निर्माण के सपने को साकार बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगा। मुख्यमंत्री ने फ्रेंड्स ऑफ एम.पी. के सभी सदस्यों को समिट में भाग लेने के लिये आमंत्रित किया। उन्होंने मध्यप्रदेश के विकास में रूचि रखने वाले अप्रवासी भारतीयों से प्रदेश के विकास में भागीदार बनने का आग्रह किया। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के ग्लोबल टेलेंट पूल बनाने के नवाचारी प्रयास को आगे बढ़ाते हुए श्री शिवराज सिंह ने फ्रेंड्स ऑफ एम.पी. फोरम बनाया। इससे मध्यप्रदेश से लगाव रखने वाले अप्रवासी भारतीय जुड़ सकते हैं, चाहे वे किसी भी देश में रहते हों। इसके अलावा, देश के किसी भी राज्य में निवास कर रहे मध्यप्रदेश के निवासी भी इससे जुड़ सकते हैं, चाहे वे किसी भी क्षेत्र में काम कर रहे हैं। फ्रेंड्स ऑफ एम.पी. के सदस्य मित्र विकास परियोजनाओं को गोद ले सकते हैं। उसे आगे बढ़ाने में वित्तीय मदद कर सकते हैं। किसी भी क्षेत्र में निवेश को बढ़ाने में भी मदद कर सकते हैं। सामाजिक गतिविधियों को प्रोत्साहन दे सकते हैं। अपनी क्षमता और प्रतिभा का उपयोग करते हुए सामुदायिक विकास, स्वास्थ्य, शिक्षा, कौशल विकास, पर्यटन, उद्योग, ग्रामीण विकास जैसे क्षेत्रों में सहयोग दे सकते हैं।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान न्यू जेरेसी स्थित श्री स्वामीनारायण मंदिर की आरती में शामिल हुए


25 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान अपने अमेरिका प्रवास के तीसरे दिन न्यू जेरेसी स्थित श्री स्वामीनारायण मंदिर पहुंचे और सायंकालीन आरती में शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश की सुख शांति और समृद्धि के लिये प्रार्थना की। मंदिर प्रबंधन के उच्च अधिकारियों ने मुख्यमंत्री और उनकी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान का स्वागत किया और मंदिर निर्माण के इतिहास एवं आध्यात्मिक महत्व के बारे में जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि भगवान श्री स्वामीनारायण के इस भव्य मंदिर में आना मेरा सौभाग्य है। इस विशाल मंदिर में आकर आध्यात्मिक शांति की अनुभूति हुई। उन्होंने कहा कि यह मंदिर अमेरिका में बसे भारतीयों की नयी पीढ़ी को अपने संस्कारों से जोड़े रखने केंद्र है। उन्होंने कहा कि धर्म के प्रति आस्था, त्याग की भावना एवं परम्पराओं को संजोकर रखने वाला यह पवित्र स्थल एक सांस्कृतिक विश्वविद्यालय के समान है। मंदिर के पुजारियों ने मुख्यमंत्री श्री चौहान और उनकी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान के लिये विशेष अभिषेक किया।


aaअध्यादेश- परिनियमों पर सहमति सही दिशा में लिया गया कदम - राज्यपाल


25 October 2017

राज्यपाल श्री ओम प्रकाश कोहली ने आज यहाँ राजभवन में आयोजित विश्वव़िद्यालय समन्वय समिति की 93वीं बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि सभी विश्वविद्यालयों के अध्यादेश/परिनियमों को एकरूप करने की कार्यवाही में उल्लेखनीय प्रगति हुई है। अधिकांश अध्यादेश-परिनियमों को लेकर सहमति बनी है, यह एक सही दिशा में लिया गया कदम है। श्री कोहली ने कहा कि विश्वविद्यालयीन प्रणाली को विश्वसनीय एवं जवाबदेह बनाना होगा। इसके लिए महाविद्यालयीन एवं विश्वविद्यालयीन सेवाओं को लोक सेवा गांरटी अधिनियम 2005 के अधीन लाना चाहिए। बैठक में उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया, अपर मुख्य सचिव, उच्च शिक्षा श्री बी.आर. नायडू, राज्यपाल के प्रमुख सचिव डॉ. एम. मोहनराव, प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा श्री संजय बंदोपाध्याय, आयुक्त उच्च शिक्षा श्री नीरज मंडलोई तथा सभी शासकीय और निजी विश्वविद्यालयों के कुलपति उपस्थित थे। राज्यपाल श्री कोहली ने कहा कि विश्वविद्यालयीन कार्यों के लिए आधुनिकतम तकनीक का अधिक से अधिक प्रयोग करना होगा। इससे कार्य की गति बढ़ेगी और पारदर्शिता भी आयेगी। राज्यपाल ने कहा कि प्रतियोगिता के इस युग में शिक्षा के विस्तार के साथ-साथ गुणवत्तापरक शिक्षा भी उपलब्ध कराना समय की मांग है अन्यथा शिक्षित बेरोजगारों की संख्या बढ़ती जायेगी। उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने कहा कि विश्वविद्यालयों के अध्यादेश और परिनियमों में एकरूपता लाने का प्रयास उच्च शिक्षा की गुणवत्ता के लिये हितकर होगा। उच्च शिक्षा मंत्री ने शोध कार्यों पर बल देते हुए कहा कि विश्वविद्यालय अथवा महाविद्यालय सिर्फ परीक्षा कराने की मशीन नहीं बनें। उन्होंने विश्वविद्यालय परिसरों के वातावरण पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि विश्वविद्यालयों में विद्यार्थियों में राष्ट्रीयता,समरसता और सदभाव का वातावरण मजबूत बनाने के लिये सभी सम्भव प्रयास किये जायें। बैठक में विभिन्न विश्वविद्यालयों में प्रचलित अध्यादेशों एवं परिनियमों में एकरूपता लाने के लिए अध्यादेश क्र. 4ए4(सी), 4(डी), 5 एवं 16 तथा परिनियम क्र.1ए1-एए3ए26ए27ए28ए35ए36ए38 को छोड़कर सभी अध्यादेश एवं परिनियम को पारित करने के प्रस्ताव को स्वीकृति दी गई। बैठक में दीक्षांत समारोह में छात्रों तथा अन्य गणमान्य व्यक्तियों द्वारा पहने जाने वाले गणवेश में परिवर्तन संबंधी प्रस्ताव को स्वीकृति दी गई तथा इसे तत्काल लागू करने का निर्णय लिया गया। बैठक में एन.एस.एस के पाठ्यक्रम को इलेक्टिव विषय के रूप में शांमिल करने का निर्णय लिया गया। एनएसएस के पाठ्यक्रम को वैकल्पिक विषय के रूप में स्नातक स्तर पर लागू किया जाएगा। यह पाठ्यक्रम स्नातक स्तर के किसी भी विषय के साथ पढ़ाया जा सकेगा। पाठ्यक्रम में एनएसएस,योग एवं कौशल विकास को शामिल किया जायेगा जिसका अनुपात क्रमश: 50:25:25 रहेगा। इंट्रीग्रेटेड यूनीवर्सिटी मैनेजमेंट सिस्टम के संबंध में बैठक में सभी राज्‍य विश्वविद्यालयों को केन्द्रीयकृत के स्थान पर विकेन्द्रीकृत प्रणाली लागू करने की अनुमति देने तथा इस व्यवस्था को लागू करने के लिए अधिकतम 6 माह की अवधि निर्धारित करने की अनुमति देने का प्रस्ताव स्वीकृत किया गया। बैठक में देश के अन्य प्रदेशों से आने वाले 12वीं के उत्तीर्ण छात्रों को स्नातक के पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए सभी विश्वविद्यालयों को स्कूल शिक्षा विभाग, मध्यप्रदेश शासन के अंतर्गत माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा विभिन्न राज्यों/ बोडौं की परीक्षाओं को, मण्डल की कक्षा 10 वीं एवं 12 वीं के समकक्ष समतुल्यता संबंधी निर्देशों एवं सूची को अंगीकृत कर प्रवेश देने का निर्णय लिया गया। स्नातक एवं स्नातकोत्तर के सामान्य पाठ्यक्रमों में क्रमश: 5 व 3 वर्ष की अवधि की बाध्यता समाप्त करने का निर्णय लिया गया।


aaम.प्र. निजी विवि विनियामक आयोग के स्थापना दिवस कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया


25 October 2017

च्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने कहा है कि निजी विश्वविद्यालयों का बहु-आयामी दायित्व होता है। निजी विश्वविद्यालयों को प्रतिस्पर्धा के इस युग में व्यावसायिक पाठ्यक्रमों को बढ़ावा देना होगा। साथ ही, कुछ गाँव अथवा बस्तियों को गोद लेकर वहाँ रोजगार के अवसर प्रदान करने होंगे। श्री पवैया आज मध्यप्रदेश निजी विश्वविद्यालय विनियामक आयोग के 9वें स्थापना दिवस समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर 'शिक्षा की गुणवत्ता में मानक संस्थाओं की भूमिका एवं दायित्व'' विषय पर परिचर्चा भी आयोजित की गई। श्री पवैया ने कहा कि कई संस्थानों के बच्चे शैक्षणिक प्रतिस्पर्धा के साथ-साथ अन्य रचनात्मक गतिविधियों में शामिल होने से ही उत्कृष्ट स्थान प्राप्त करते हैं। इससे बच्चों के ललाट पर व्यक्तित्व विकास भी झलकता है और वे आत्म-विश्वास से ओत-प्रोत होते हैं। उन्होंने कहा कि आबादी की दृष्टि से निजी विश्वविद्यालयों की अभी भी आवश्यकता है। मध्यप्रदेश को ऐसे प्रतिष्ठित संस्थानों की जरूरत है, जो अच्छा काम करें। अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा श्री बी.आर. नायडू ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता के साथ विस्तार की आवश्यकता है। कार्यशाला के जरिये जो सुझाव प्राप्त होंगे, उसे अमल में लाने का प्रयास किया जाएगा। जागरण लेक सिटी के कुलपति डॉ. अनूप स्वरूप ने कहा कि प्रदेश में 70 प्रतिशत बच्चे निजी विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय में पढ़ रहे हैं। मध्यप्रदेश आने वाले समय में एजुकेशनल हब बन सकता है। आयोग के अध्यक्ष डॉ. अखिलेश कुमार पाण्डेय ने आयोग की गतिविधियों के बारे में बताया। इस मौके पर आयोग के सदस्य डॉ. स्वराज पुरी भी मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन सुश्री अंजलि दुबे और श्री संदीप दुबे ने किया। कार्यक्रम की शुरूआत में माँ सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्जवलन कर सरस्वती वंदना और वंदे-मातरम् का गायन हुआ। पुष्प-गुच्छ और शॉल-श्रीफल से अतिथियों का सम्मान किया गया। अंत में स्मृति-चिन्ह भी दिए गये।


aaवैश्विक समाज में गरीबी-अमीरी का अंतर कम करने के लिये जरूरी है एकात्म मानववाद


24 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि विश्व में बढ़ रही भौतिकवादी प्रवृत्ति से अमीरी और गरीबी का अन्तर काफी बढ़ गया है। इससे मनुष्य की आंतरिक शक्ति और शांति छिन्न-भिन्न हो गई है। उन्होंने कहा कि वैश्विक समाज में एकरूपता लाने के लिये जरूरी है कि अमीरी-गरीबी के बीच के अंतर को कम से कम किया जाये। श्री चौहान ने कहा कि पण्डित दीनदयाल उपाध्याय का एकात्म मानववाद का सिंद्धात अपना कर ही गरीबी-अमीरी के अंतर को कम कर विश्व शांति का मार्ग प्रशस्त किया जा सकता है। श्री चौहान अमेरिका प्रवास के दूसरे दिन 23 अक्टूबर को वाशिंगटन में भारतीय दूतावास के सहयोग से फाउंडेशन फार इंडिया एंड इंडिया डायसपोरा स्टडीज यूस द्वारा पण्डित दीनदयाल उपाध्याय फोरम के शुभारंभ सत्र को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री द्वारा एकात्म मानववाद की सरल व्याख्या से प्रभावित होकर उपस्थित सभी आमंत्रितों ने खड़े होकर तालियों से मुख्यमंत्री का अभिवादन किया।
एकात्म मानववाद प्रेरित हैं विकास योजनाएं
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पण्डित दीनदयाल उपाध्याय के एकात्म मानववाद के दर्शन की व्याख्या करते हुए कहा कि मानवता और मनुष्य के लिये केवल भौतिक समृद्धि पर्याप्त नहीं है। उन्होंने कहा कि पण्डित दीनदयाल उपाध्याय के जन्म शताब्दी वर्ष पर गरीब कल्याण एजेण्डे पर तेजी से अमल किया जा रहा है। उन्होने कहा कि मध्यप्रदेश दुनिया में संभवता पहला उदाहरण है जहां 5 वर्षों से एग्रीकल्चर ग्रोथ रेट लगातार 20 प्रतिशत कायम है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ऊँची विकास दर हासिल करने के बावजूद यदि गरीब तबकों का विकास न हो, तो समाज सुखी नहीं रह सकता। उन्होंने कहा कि दुनिया में 2-3 प्रतिशत लोगों ने 70 प्रतिशत से ज्यादा प्राकृतिक संसाधनों पर अधिकार कर लिया है। गरीब लोग संसाधनों से दूर हो गये हैं। श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में गरीबों को संसाधनों से सम्पन्न बनाने के लिये कई रणनीतियां, नीतियां और कार्यक्रम बनाये गये हैं। सभी प्रयास और नवाचार पण्डित दीनदयाल उपाध्याय के एकात्म मानववाद के दर्शन से प्रेरित हैं। श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में ऐसी नीतियां बनाई गईं हैं जिनसे यह सुनिश्चित होता है कि सक्षम नागरिक टैक्स दें और कमजोर तथा असहाय लोगों को उनका हक मिले।
बेटियों के प्रति मानसिकता बदली-
मध्यप्रदेश में महिलाओं को सशक्त बनाने के लिये किये गये प्रयासों को रेखांकित करते हुए श्री चौहान ने कहा कि अब बेटियों को बोझ नहीं माना जाता। उन्होंने लाडली लक्ष्मी योजना के प्रभाव की चर्चा करते हुए बताया कि इससे लोगों की मानसिकता बदली है। उन्होंने कहा कि महिला सशक्तिकरण में मध्यप्रदेश बहुत आगे निकल गया है। महिलाओं को स्थानीय निकायों में 50 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है। उन्होंने कहा कि महिलाओं को उच्च पदों पर प्रतिनिधित्व देने और उच्च पदों पर आसीन होने के लिये प्रोत्साहित करने में भारत कई देशों से आगे निकल गया है। भारत में विदेश मंत्रालय, रक्षा मंत्रालय, लोक सभा स्पीकर, जल-संसाधन मंत्रालय जैसे महत्वपूर्ण पदों पर महिलाओं का नेतृत्व मिल रहा है। सरकारी नौकरी में भी शिक्षकों के पदों पर 50 प्रतिशत आरक्षण बेटियों को दिया गया है। केवल फारेस्ट डिपार्टमेंट छोड़कर सभी सरकारी विभागों में महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है। इसमें पुलिस विभाग भी शामिल है। उन्होंने कहा कि इस व्यवस्था का परिणाम यह रहा कि महिलाएं अपनी प्रतिभा और क्षमता से हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि भौतिकता की अग्नि में दबी मानवता को शाश्वत शांति का दिग्दर्शन केवल एकात्म मानव दर्शन से हो सकता है। प्रकृति के हर अंग में एक ही चेतना है। उन्होंने कहा कि इसी दर्शन से ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन जैसी समस्याओं का समाधान निकल सकता है। श्री चौहान ने बताया कि पण्डित दीनदयाल उपाध्याय ने साफ कहा है कि प्रकृति का शोषण मत करो, इसका दोहन करो। प्रकृति के पास सबके लिये कुछ न कुछ है जिससे जीवन चल सकता है। लालच में आकर प्रकृति का विनाश करना सबसे बड़ा दुष्कर्म है। श्री चौहान ने विश्व के सबसे बड़े नदी संरक्षण अभियान नर्मदा सेवा यात्रा की चर्चा करते हुए बताया कि एक दिन में ही नदी के दोनों किनारों पर सात करोड़ से ज्यादा पौधों का रोपण किया गया ताकि नदी जीवंत बनी रहे। उन्होंने कहा कि प्रकृति की आराधना सबसे बडा धर्म है।


aaप्रधानमंत्री श्री मोदी का नेतृत्व भारत-अमेरिकी मित्रता का स्वर्णकाल : श्री चौहान


23 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अमेरिका प्रवास के पहले दिन 22 अक्टूबर को वाशिंगटन में भारतीय समुदाय के लोगों के साथ आयोजित संवाद सत्र में मध्यप्रदेश के विकास के विभिन्न आयामों पर चर्चा की। इस सत्र का आयोजन भारतीय दूतावास ने किया था। मुख्यमंत्री ने भारत और मध्यप्रदेश की अभूतपूर्व प्रगति की चर्चा करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में निवेश की अपार संभावनाएं हैं। श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में वर्तमान समय को भारत-अमेरिका की मित्रता का स्वर्णकाल कहा जा सकता है। इस अनूकूल स्थिति के निर्माण में अमेरिका में बसे भारतीय समुदाय की मेहनत, लगन और राष्ट्रप्रेम की प्रमुख भूमिका है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश अब भारत का ऐसा प्रदेश बन गया है जहां प्रजातांत्रिक प्रक्रियाओं में आम लोगों की सीधी भागीदारी है। मध्यप्रदेश में ग़रीब कल्याण और गरीबी उन्मूलन की दिशा में मिशन के रूप में रणनीति अपनाकर ऐतिहासिक प्रयास किये गये हैं। श्री चौहान ने बताया कि अब वर्ष 2022 तक मध्यप्रदेश में हर ग़रीब को अपना घर देने की रणनीति पर काम चल रहा है। सामाजिक क्षेत्र में हुए प्रयासों की चर्चा करते हुए श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में हर बेटी को लखपति बनाने की पहल की गई है। उन्होने कहा कि बेटियों से उनका रिश्ता मामा का बन गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत में महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में अभूतपूर्व काम हुआ है। श्री चौहान ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के मामले में भी मध्यप्रदेश में ऐतिहासिक काम हुआ है। उन्होने नर्मदा सेवा यात्रा की चर्चा करते हुए कहा कि नदी के दोनों तटों पर फलदार वृक्ष लगाये गये हैं ताकि नदी को नया जीवन मिल सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे विश्व में नदी संरक्षण की दिशा में लोगों की अभूतपूर्व भागीदारी से पहली बार मध्यप्रदेश में इतने विशाल पैमाने पर नदी संरक्षण का अभियान शुरू हुआ है जो अनवरत चलेगा। श्री चौहान ने कहा कि भारत के विकास में मध्यप्रदेश अहम भूमिका निभा रहा है। औद्योगिकरण के मामले में भी मध्यप्रदेश देश के अग्रणी प्रदेशों में शामिल हो गया है। उन्होने कहा कि मध्यप्रदेश में किसानों के लिये सिंचाई के ऐसे पुख्ता इंतजाम किये जा रहे हैं कि किसी भी किसान का खेत पानी की सुविधा से वंचित न रहे। श्री चौहान ने नदियों को जोड़ने के प्रोजेक्ट पर भारतीय समुदाय से विस्तार से चर्चा की। मुख्यमंत्री ने भारतीय समुदाय से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाले भारत के अनुभव साझा करते हुए कहा कि श्री मोदी ने भारत को एक स्वाभिमानी देश बनाया है। श्री चौहान ने म्यूजियम आफ अमेरिकन हिस्ट्री और युद्ध स्मारक का भी भ्रमण किया।


aaस्व-रोजगार से जुड़ी योजनाओं में बैंकर्स संवेदनशील रहकर कार्य करें


23 October 2017

वित्त एवं वाणिज्यिक कर मंत्री श्री जयंत मलैया ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने देश में स्व-रोजगार के अवसर देने के लिए महत्वाकांक्षी योजनाएँ शुरू की हैं। इन योजनाओं में युवाओं और महिलाओं को ऋण देने के मामले में बैंकर्स संवेदनशील रहकर कार्य करें। उन्होंने कहा कि निर्धन वर्ग के व्यक्तियों को आर्थिक मदद देने के मामलों को प्राथमिकता दी जाए। वित्त मंत्री श्री मलैया आज भोपाल के बीएचईएल के इन्द्रपुरी-भारत नगर में धन लक्ष्मी बैंक शाखा के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे। वित्त मंत्री श्री मलैया ने कहा कि मध्यप्रदेश में वंचित वर्ग की महिलाओं को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने के लिए बड़ी संख्या में स्व-सहायता समूह बनाए गए हैं। इन्हें आर्थिक रूप से मदद देकर आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी बैंकों की है। वित्त मंत्री ने कार्यक्रम में प्रधानमंत्री आवास योजना में जरूरतमंदों के लिए बनाए जा रहे मकान निर्माण की जानकारी भी दी। उन्होंने बताया कि हाल ही में भोपाल और इंदौर में प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में मेगा शिविर लगाए गए थे। इन शिविरों में बैंकों की सेवा सराहनीय रही है। कार्यक्रम में चीफ जनरल मैनेजर श्री मनिकंडन पी. ने बताया कि धन लक्ष्मी बैंक की स्थापना वर्ष 1927 में केरल के त्रिचूर में हुई थी। पिछले 90 वर्षों में धन लक्ष्मी बैंक को समाज के सभी वर्गों का सहयोग मिला है। बैंक का कारोबार अब 18 हजार करोड़ का हो गया है। शाखा प्रमुख श्री सुंदरेशन के. ने बताया कि बैंक की देशभर में 258 शाखा हैं। मध्यप्रदेश में बैंक की पहली शाखा राजधानी भोपाल में शुरू की गई है। जल्द ही प्रदेश के अन्य शहरों में धन लक्ष्मी बैंक का विस्तार किया जाएगा। बैंक के रीजनल हेड श्री मुरलीधरन एम. ने बताया कि धन लक्ष्मी बैंक माइक्रो फायनेंसिंग में प्राथमिकता के साथ कार्य कर रहा है। देशभर में बैंक के करीब 35 लाख ग्राहक हैं, जिन्हें अच्छी सेवाएँ दी जा रही हैं। कार्यक्रम को भोपाल के आर्चविशप डॉ. लियो कॉर्नेलियो और नायर समाज के पदाधिकारियों ने भी संबोधित किया।


aaसरकारी भवनों पर राष्ट्र ध्वज के साथ संघ का ध्वज भी फहराया जा सकेगा


23 October 2017

विगत वर्षों की भाँति इस वर्ष भी प्रदेश में 24 अक्टूबर को संयुक्त राष्ट्र दिवस समारोह मनाया जाएगा। राजभवन, विधानसभा भवन एवं उच्च न्यायालय भवनों को छोड़कर संयुक्त राष्ट्र संघ का ध्वज नियमित रूप से राष्ट्रीय ध्वज फहराने वाले सरकारी भवनों पर फहराया जा सकेगा। जिन जिला मुख्यालयों पर संयुक्त राष्ट्र संघ का ध्वज उपलब्ध है, वे राष्ट्रीय ध्वज के साथ-साथ संघ के ध्वज को महत्वपूर्ण सरकारी भवनों पर फहरा सकते हैं। भारतीय झण्डा संहिता के अनुसार जब संयुक्त राष्ट्र संघ का झण्डा राष्ट्रीय झण्डे के साथ फहराया जाता है तो वह राष्ट्रीय झण्डे के किसी भी ओर लगाया जा सकता है। सामान्यत: राष्ट्रीय झण्डे को इस तरह फहराया जाता है कि वह अपने सामने वाली दिशा के हिसाब से एकदम दाँयीं ओर होता है। अर्थात झण्डे की ओर मुख किए हुए व्यक्ति के एकदम बाँईं ओर। केन्द्र शासन ने सभी राज्य सरकारों को दिशा-निर्देश जारी किये हैं।


aaअमेरिका दौरे पर वाशिंगटन डीसी पहुँचे मुख्यमंत्री श्री चौहान


22 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान अमेरिका दौरे पर रविवार शाम वाशिंगटन डीसी पहुँचे। अमेरिका में मुख्यमंत्री के व्यस्ततम कार्यक्रम निर्धारित हैं। श्री चौहान ने पूर्व में फरवरी-2015 में अमेरिका दौरे के दौरान वहाँ फ्रेण्ड्स ऑफ एम.पी. संस्था का गठन किया था। मुख्यमंत्री श्री चौहान अमेरिका में अमेरिकी कांग्रेस के पहले हिन्दू सदस्य श्री तुलसी गैबॉर्ड और अमेरिकी-भारत व्यापार परिषद की अध्यक्ष सुश्री निशा बिस्वाल से भेंट करेंगे। अमेरिका में मुख्यमंत्री श्री चौहान दो विशेष कार्यक्रमों में मुख्य वक्ता होंगे। इसके बाद फ्रेण्ड्स ऑफ एम.पी. संस्था के सदस्यों के साथ महत्वपूर्ण विषयों पर विचार-विमर्श सत्र (इंटरेक्टिव सेशन) में शामिल होंगे। श्री चौहान अमेरिका में भारतीय मूल के लोगों से मिलेंगे। तत्पश्चात् भारतीय राजदूत श्री नवतेज सरन के साथ मुख्यमंत्री श्री चौहान की बैठक आयोजित होगी। सोमवार 23 अक्टूबर को मुख्यमंत्री श्री चौहान अमेरिकी सीनेट में पं. दीनदयाल उपाध्याय फोरम के उद्घाटन समारोह को मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित करेंगे। इसी दिन शाम को श्री तुलसी गैबार्ड और अमेरिका-भारत व्यापार परिषद की अध्यक्ष सुश्री निशा बिस्वाल के साथ बैठक करेंगे। श्री चौहान मंगलवार 24 अक्टूबर को अमेरिका में आयोजित निवेश संवर्धन सम्मेलन में भाग लेंगे। इस सम्मेलन का आयोजन अमेरिका-भारत सामरिक भागीदारी फोरम और भारतीय उद्योग परिसंघ द्वारा संयुक्त रूप से किया जा रहा है। इसी दिन शाम को मुख्यमंत्री श्री चौहान न्यू जर्सी में प्रतिष्ठापित अक्षरधाम मंदिर जाएंगे। बुधवार 25 अक्टूबर को मुख्यमंत्री बिजनेस लीडर्स के साथ दोपहर भोज करेंगे। भोज के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को न्यूयार्क कौंसिल जनरल श्री संदीप चक्रवर्ती संबोधित करेंगे। कार्यक्रम में मध्यप्रदेश की ओर से प्रमुख सचिव वाणिज्य, उद्योग एवं रोजगार श्री मोहम्मद सुलेमान प्रजेंटेशन देंगे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान कोलम्बिया विश्वविद्यालय के इन्क्यूबेशन सेंटर भी जाएंगे। गुरुवार 26 अक्टूबर को मुख्यमंत्री गोल्डमैन सैक के प्रबंध निदेशक श्री हर्ष गुप्ता और हल्दिया पेट्रो केमिकल्स के अध्यक्ष श्री पुर्णेंदु चटर्जी से मुलाकात करेंगे। शुक्रवार 27 अक्टूरबर को मुख्यमंत्री अमेरिका में प्रमुख लोगों के साथ अलग-अलग बैठक लेंगे और शनिवार 28 अक्टूबर को स्वदेश के लिए रवाना होंगे।


aaमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया के ग्राम मुरेरा और जखोरिया में किया नल-जल योजना का शिलान्यास


22 October 2017

जनसंपर्क, जल-संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने दतिया विधानसभा क्षेत्र के ग्राम मुरेरा एवं जखोरिया में 70 करोड़ रुपए की लागत से 64 ग्रामों में पानी पहुंचाने वाली नल-जल योजना का शिलान्यास किया। इस दौरान उन्होंने ग्राम मुरेरा में बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें नमन किया। कार्यक्रम में पाठय पुस्तक निगम के उपाध्यक्ष श्री अवधेश नायक सहित अन्य जनप्रतिनिधि ग्राम पंचायत सरपंच तथा स्थानीय जन मौजूद थे। जनसंपर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने ग्राम मुरेरा में कहा कि इस सतही नल-जल योजना के द्वारा सिंध नदी से पानी आएगा। शहरों में घर-घर नल की टोटी से पानी पहुंचता है इसी प्रकार ग्रामीण क्षेत्रों में भी घर-घर नल से स्वच्छ पानी मिलेगा।


aaराज्य मंत्री श्री सारंग ने की छठ पूजा स्थलों की सफाई


22 October 2017

सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी, राहत एवं पुर्नवास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने आज छठ पर्व के पूर्व पूजा स्थलों और पूजा कुंडों की स्थानीय नागरिकों के साथ सफाई की। श्री सारंग सिक्योरिटी लाइन, सुभाष नगर, एकतापुरी, राजेन्द्र नगर और करोंद में कार्यक्रम स्थल पहुँचे और स्वयं कुंड की सफाई की और वर्षा जल तथा कचड़ा बाहर निकाला, कार्यक्रम स्थल पर झाड़ू लगाई। राज्य मंत्री श्री सारंग ने कहा कि छठ पूजा एक महत्वपूर्ण पर्व है। इसलिये पूजा स्थलों एवं परिसरों को साफ रखना सभी की जिम्मेदारी है। इस दौरान स्थानीय पार्षद, जन-प्रतिनिधि और बड़ी संख्या में नागरिक मौजूद थे


aaराज्यपाल द्वारा दीपावली पर्व पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएँ


18 October 2017

राज्यपाल श्री ओम प्रकाश कोहली ने दीपावली पर्व पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं। राज्यपाल श्री कोहली ने अपने संदेश में कहा है कि दीपावली का त्यौहार अंधकार से प्रकाश की ओर बढ़ने का संदेश देता है। यह त्यौहार हमें विश्व में शांति,सदभाव और एकता के साथ रहने की प्रेरणा देता है। राज्यपाल श्री कोहली ने इस अवसर पर सभी प्रदेशवासियों के सुख और समृद्धि की कामना की है।


aaमत्रि-परिषद के सदस्यों ने दी प्रदेशवासियों को दीपावली की शुभकामनाएँ


18 October 2017

राज्य मंत्रि-परिषद के सदस्यों ने प्रदेशवासियों को दीपावली पर्व पर शुभकामनाएँ दी है। मंत्रीगण ने अपने संदेश में कहा है कि दीपों का पर्व दीपावली हमें अन्धेरे से उजाले की ओर निरंतर चलते रहने की प्रेरणा देता है। दीपावली का पर्व सामाजिक सदभाव और भाईचारे के साथ रहने का संदेश भी देता है। मंत्री सर्वश्री जयंत मलैया, गोपाल भार्गव, डॉ. गौरीशंकर शेजवार, सुश्री कुसुम महदेले, कुँवर विजय शाह, गौरीशंकर बिसेन, रुस्तम सिंह, ओमप्रकाश धुर्वे, उमाशंकर गुप्ता, श्रीमती अर्चना चिटनिस, श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, पारसचन्द्र जैन, राजेन्द्र शुक्ल, अंतर सिंह आर्य, रामपाल सिंह, श्रीमती माया सिंह, भूपेन्द्र सिंह और जयभान सिंह पवैया ने अपने संदेश में प्रदेशवासियों को दीपावली पर्व की शुभकामनाएँ दी हैं। राज्य मंत्री सर्वश्री दीपक जोशी, लालसिंह आर्य, शरद जैन, सुरेन्द्र पटवा, हर्ष सिंह, संजय सत्येन्द्र पाठक, श्रीमती ललिता यादव, विश्वास सारंग और सूर्यप्रकाश मीना ने भी प्रदेशवासियों को दीपावली पर्व पर शुभकामनाएँ दी हैं। मंत्रीगण ने विश्वास व्यक्त किया है कि प्रदेशवासी राज्य के सर्वांगीण विकास के लिये पूरी लगन के साथ प्रदेश को अग्रणी बनाने का संकल्प लेंगे। मंत्रि-परिषद के सदस्यों ने ऊर्जा संरक्षण के लिये एलईडी बल्ब का उपयोग करने और पर्यावरण संरक्षण के लिये कम घ्वनि वाले और सीमित संख्या में पटाखों का उपयोग करने का भी आग्रह किया है। मंत्रीगण ने प्रदेशवासियों से दीपावली का पर्व मिल-जुलकर और सदभावपूर्ण माहौल में मनाने का आग्रह किया है।


aaधनतेरस पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की खरीददारी


17 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भारतीय परम्परा के अनुसार धनतेरस पर्व के अवसर पर आज यहाँ सपरिवार खरीददारी की। श्री चौहान अपनी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह और पुत्र कार्तिकेय के साथ न्यू मार्केट स्थित अग्रवाल ज्वेलर्स और दर्वेश बर्तन भंडार पहुँचे। उन्होंने चाँदी का सिक्का, लक्ष्मी और गणेश मूर्ति, काँसे की परात और ताँबे का जग खरीदा। उन्होंने खरीददारी के दौरान कैशलेश भुगतान किया। श्री चौहान ने प्रदेशवासियों को धनतेरस और दीपावली पर्व की शुभकामनाएँ देते हुये कहा कि प्रदेशवासियों के जीवन में सुख और समृद्धि आये। उन्होंने कहा कि प्रदेश में समाज के हर वर्ग के कल्याण के लिये योजनायें बनाई गई है। किसानों को अपनी उपज का उचित मूल्य मिले इसके लिये भावांतर भुगतान योजना लागू की गई है। प्रतिभाशाली विद्यार्थियों के लिये मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना क्रियान्वित की जा रही है। प्रदेश में गरीब कल्याण एजेंडा क्रियान्वित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सभी नागरिक स्वस्थ और प्रसन्न रहें, सबके परिवार सुखी रहें और प्रदेश आगे बढ़ता रहे। इस अवसर पर महापौर श्री आलोक शर्मा और श्री अनिल अग्रवाल लिलि भी उपस्थित थे।


aaभावांतर भुगतान योजना से किसानों के जीवन में आएगी सुख-समृद्धि : मुख्यमंत्री श्री चौहान


17 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज अशोकनगर जिले के विकासखण्ड मुख्यालय मुंगावली में 389.77 करोड़ रुपये लागत की चंदेरी-मुंगावली उद्वहन सिंचाई परियोजना का शिलान्यास करते हुए कहा कि इस परियोजना से किसानों को सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी मिलेगा। खेतों में फसलें लहलहाएंगी। मुख्यमंत्री ने किसान सम्मेलन में भावांतर भुगतान योजना के अंतर्गत किसानों को पंजीयन प्रमाण-पत्र प्रदान करते हुए कहा कि इस योजना से किसानों के जीवन में सुख-समृद्धि आएगी। किसानों को उनकी मेहनत का पूरा लाभ दिलाया जाएगा। समर्थन मूल्य से कम मूल्य पर फसल नहीं बिकने दी जाएगी। किसान सीधे मण्डी में फसल बेचेंगे। समर्थन मूल्य के अंतर की राशि किसान के खाते में राज्य सरकार द्वारा जमा कराई जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसानों को सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराना सरकार की पहली प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में एक हजार करोड़ रुपये का मूल्य स्थिरीकरण कोष बनाया गया है। कृषक युवा उद्यमी योजना लागू की जाएगी। इस योजना के तहत 10 लाख से 2 करोड़ रुपये तक ऋण उपलब्ध कराया जाएगा, जिसकी बैंक गारंटी प्रदेश सरकार देगी। किसानों को योजनाओं की जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार किसानों को बिना ब्याज का ऋण उपलब्ध करा रही है। खसरे और बी-1 की नकल किसानों को घर-घर जाकर दी जाएगी। श्री चौहान ने कहा कि अशोकनगर जिले को सूखाग्रस्त घोषित किया गया है। इस अवसर पर उन्होंने ग्राम पंचायत बहादुरपुर को नई तहसील बनाने और वहाँ पर उप-मण्डी प्रारंभ करने, मुंगावली में बाईपास मार्ग निर्माण, मुंगावली अस्पताल की क्षमता 100 बिस्तर तक निर्मित करने, तहसील पिपरई को नगर परिषद का दर्जा देने और वहाँ कॉलेज खोलने, मुंगावली महाविद्यालय में पी.जी. स्नातकोत्तर कक्षाएँ प्रारंभ कराने और नगर पंचायत शाढोरा में कॉलेज खोलने की घोषणा की। श्री चौहान ने सम्मेलन में 400.36 करोड़ रुपये लागत के विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास भी किया। किसान सम्मेलन में जल-संसाधन एवं जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, जिले के प्रभारी मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया, सांसद श्री प्रभात झा, विधायक श्री गोपीलाल जाटव, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती बाईसाहब यादव, नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती सुशीला साहू, अन्य जन-प्रतिनिधि और किसान उपस्थित थे।


aaराज्य मंत्री श्री सारंग द्वारा गोविंदपुरा कन्या स्कूल में स्मार्ट क्लास का शुभारंभ


17 October 2017

सहकारिता, भोपाल गैस त्रासदी, राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने आज गोविंदपुरा कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में स्मार्ट क्लास का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि ऑडियो-विजुअल, ग्राफिक्स आदि के माध्यम से तैयार टीचिंग लर्निंग मटेरियल की नई पद्धति स्मार्ट क्लास बच्चों की प्रतिभा को निखारेगी। राज्य मंत्री ने कहा कि शासकीय स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों में प्रतिभा की कमी नहीं है। जरूरत है उनको हरसंभव साधन सुविधा उपलब्ध कराने की, जिससे उनको आगे बढ़ने में मदद मिले। उन्होंने कहा कि कम्प्यूटर के माध्यम से प्रोजेक्टर पर ऑडियो-विजुअल, ग्राफिक्स डिजाइन आदि को शामिल कर कक्षा-एक से 12वीं तक की कक्षाओं के पाठ्यक्रम स्मार्ट क्लास में पढ़ाये जाएंगे। स्मार्ट क्लास के मॉडल में पढ़ाने वाले शिक्षकों को भी प्रशिक्षण देने की व्यवस्था की गई है। गोविंदपुरा कन्या स्कूल में स्मार्ट क्लास की शुरूआत संवेदना प्रोजेक्ट के तहत श्री राजेन्द्र पटेल द्वारा सीएसआर फण्ड में दिए गए अनुदान से शुरू की गई है। संवेदना प्रोजेक्ट की ग्रुप लीडर सुश्री जान्हवी पटेल ने परियोजना के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। इस अवसर पर स्थानीय जन-प्रतिनिधि, शिक्षा विभाग के अधिकारी, गणमान्य नागरिक और छात्राएँ मौजूद थीं।


aaमंत्री श्री आर्य ने किया साँची घी के 5 एवं 15 किलो पैक का शुभारंभ


17 October 2017

पशुपालन मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य ने आज धनतेरस के अवसर पर भोपाल में साँची घी की 5 किलो एवं 15 किलो की अत्याधुनिक पैकिंग का शुभारंभ किया। यह पैकिंग अत्यधिक आकर्षक होने के साथ सुरक्षित और लीक प्रूफ भी है। इसमें फूड ग्रेड गुणवत्ता का प्लास्टिक और कलर इंक का प्रयोग किया गया है। इन डिब्बों को मजबूत होने के कारण काफी मात्रा में कम जगह पर रखा जा सकता है। सीलप्रूफ होने के कारण गुणवत्ता भी सुरक्षित रहेगी और किसी प्रकार की मिलावट की गुंजाइश भी समाप्त हो जाएगी। श्री आर्य ने म.प्र. को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन के अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई देते हुए कहा कि यह उनकी मेहनत का परिणाम है कि पिछले 10-12 साल पहले मध्यप्रदेश जहाँ दुग्ध उत्पादन में देश में छठे-सातवें और गत वर्ष चौथे नम्बर पर था, आज तीसरे पायदान पर आ गया है। श्री आर्य ने कहा कि दुग्ध और साँची उत्पादों की गुणवत्ता और मात्रा में बढ़ोत्तरी का कारण पिछले वर्ष दुग्ध संकलन केन्द्रों और मिल्क रूट संख्या में बढ़ोत्तरी है। उन्होंने कहा कि हम मेहनत कर रहे हैं, हमें मेहनत जारी रखते हुए इसे नम्बर वन बनाना है। श्री आर्य ने कहा कि राज्य शासन का वर्ष 2022 तक कृषि आमदनी को दोगुना करने का लक्ष्य है, जिसमें पशुपालन विभाग महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। भारतीय संस्कृति में पशुधन सदैव महत्वपूर्ण रहा है। आज पढ़े-लिखे नौजवान डेयरी उद्योग में आगे आ रहे हैं। प्रमुख सचिव श्री अजीत केसरी ने बताया कि इस वर्ष दुग्ध संग्राहक किसानों को करीब 200 करोड़ रुपये की राशि का भुगतान किया गया। यह दुग्ध संकलन के लिए अब तक का किया गया सर्वाधिक भुगतान है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के दुग्ध उत्पादों की गुणवत्ता में अब अंतर्राष्ट्रीय मानकों का पालन किया जाएगा। प्रबंध संचालक डॉ. अरुणा गुप्ता ने बताया कि इस वर्ष को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन द्वारा अब तक का सर्वाधिक 14 लाख लीटर दूध का उपार्जन किया गया। मध्यप्रदेश के लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि है कि उसने मदर डेयरी को पीछे छोड़ते हुए इस वर्ष आईआरटीसी का अनुबंध हासिल किया है। मध्यप्रदेश को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन के वर्तमान एवं पूर्व अध्यक्ष श्री मस्तान सिंह राजपूत और श्री धरम सिंह वर्मा, सीपेट दिल्ली के निदेशक, दुग्ध संघों के कार्यपालन अधिकारी तथा अधिकारी-कर्मचारी और आम नागरिक कार्यक्रम में उपस्थित थे।


aaजिला आयुर्वेद चिकित्सालय का विस्तार होगा : राजस्व मंत्री श्री गुप्ता


17 October 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा है कि जिला आयुर्वेद चिकित्सालय का विस्तार किया जाएगा। राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस एवं धनवतंरी जयंती पर आज शासकीय जिला आयुर्वेद चिकित्सालय में नि:शुल्क आयुर्वेद चिकित्सा शिविर में उन्होंने अधिकारियों को विस्तार का प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिये। श्री गुप्ता ने चिकित्सालय में शल्य कक्ष, पुरूष पंच कर्म केन्द्र और पुरूष वार्ड का लोकार्पण भी किया। राजस्व मंत्री ने कहा कि आयुर्वेद पर लोगों का विश्वास बढ़ रहा है। इस विश्वास को पूरी तरह से स्थापित करने की जिम्मेदारी चिकित्सकों की है। उन्होंने कहा कि शिविर में लोगों को बेहतर इलाज के माध्यम से आने के लिये प्रेरित करें। प्रमुख सचिव आयुष श्रीमती शिखा दुबे ने कहा कि देश में सबसे अधिक आयुर्वेद चिकित्सालय भोपाल में हैं। उन्होंने कहा कि अब आयुष पेथी लोगों को पसंद आ रही है। शिविर में मरीजों का नि:शुल्क परीक्षण और दवाइयाँ दी गयी।।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान ने खुरई से किया भावान्तर भुगतान योजना का शुभारंभ


16 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज सागर जिले की खुरई नवीन कृषि उपज मंडी प्रांगण में भावान्तर भुगतान योजना के राज्य स्तरीय शुभारंभ कार्यक्रम में कहा कि यह योजना किसानों के लिए सुरक्षा कवच के रूप में कार्य करेगी। इस योजना में समर्थन मूल्य से कम दाम पर बिकने वाली फसलों के अंतर की राशि किसानों के बैंक खाते में दी जायेगी। किसानों को उनकी मेहनत का पूरा लाभ दिलाया जायेगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लगभग एक सौ करोड़ रूपये की लागत के विकास कार्यो का लोकार्पण एवं शिलान्यास भी किया। कार्यक्रम का प्रदेश में लाइव प्रसारण किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पूरे प्रदेश की 257 मंडियों में आज से योजना का शुभारंभ हो रहा है। बुंदेलखंड के किसान मेहनत कर रहे हैं। प्रदेश कृषि के क्षेत्र में देश में नम्बर एक है। प्रदेश के किसानों के लिए आज का दिन ऐतिहासिक एवं स्वर्णिम है। सरकार किसानों को कर्ज बिना ब्याज के दे रही है। इतना ही नहीं अब एक लाख का कर्ज लेने पर 90 हजार रूपये ही वापस करना होते हैं। खेती को लाभ का धंधा बनाना है। खुरई के गेहूँ की पूरे हिन्दुस्तान में पहचान है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सिंचाई की सुविधा उपलब्ध करवाना सरकार की प्राथमिकता है। प्रदेश में 40 लाख हैक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई हो रही है। बीना कॉम्पलेक्स की योजना को स्वीकृति दे दी गई है। इसमें लगभग 3735 करोड़ रूपये खर्च होंगे एवं लगभग 2.5 लाख हैक्टेयर में सिंचाई होगी। परकुल, कड़ान मध्यम परियोजनाओं को भी स्वीकृति दे दी गई है। इसी तरह कई लघु परियोजनाओं को स्वीकृति दी जायेगी। केन-बेतवा लिंक परियोजना को जल्दी शुरू करने के प्रयास चल रहे हैं। किसानों को उनकी फसलों की उचित कीमत दिलायी जायेगी। जब तक उचित दाम नहीं मिलेंगे, आमदनी नहीं बढ़ सकती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने 8 रूपये प्रति किलो की दर से प्याज खरीदी है। सरकार किसानों की मेहनत को बर्बाद नहीं होने देना चाहती है। समर्थन मूल्य के नीचे फसल नहीं बिकने देंगे। किसान सीधे मंडी में फसल बेचेगा और समर्थन मूल्य के अंतर की राशि किसान के खाते में डाल दी जायेगी। उड़द, मूंग, सोयाबीन, मक्का के समर्थन मूल्य से नीचे बिकने का उदाहरण देकर मुख्यमंत्री ने योजना की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने किसानों से योजना के तहत पंजीयन कराने की अपील करते हुए बताया कि उद्यानिकी फसलों पर भी यह योजना लागू की जायेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 1000 करोड़ रूपये लागत का मूल्य स्थिरीकरण कोष बनाया गया है। फसल गिरदावली मोड्यूल एप बनाया जायेगा। बुंदेलखंड के सारे जिले सूखाग्रस्त घोषित किये गये हैं। बीस प्रतिशत राशि जमा करने पर जले हुए ट्रांसफार्मर बदलवाये जायेंगे। कृषक युवा उद्यमी योजना लागू की जायेगी जिसमें 10 लाख से लेकर 2 करोड़ रूपये तक का लोन मिलेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि अंचल के कृषि उपकरण पूरे देश में प्रसिद्ध है। इसके लिए खुरई में औद्योगिक क्षेत्र बनाया जायेगा। खसरे और बी-1 की नकल किसानों को घर बैठे दी जायेगी। श्री चौहान ने कहा कि अविवादित नामांतरण, बँटवारा, सीमांकन के मामले युद्ध स्तर पर निपटाये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अच्छा कार्य करने वालों को पुरस्कृत करेंगे एवं भ्रष्टाचारियों पर कार्यवाही करेंगे। वर्ष 2018 तक 4 लाख किसानों को स्थायी कनेक्शन देंगे। मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना लागू की जायेगी। किसानों को निश्चित सीमा में नगद भुगतान किया जायेगा। संकट की घड़ी में सरकार किसानों के साथ खड़ी है, उन्हें घबराने की जरूरत नहीं है। भावान्तर भुगतान योजना किसानों के लिए सुरक्षा कवच है, जो इतिहास रचेगी। उन्होंने मुख्यमंत्री मेधावी छात्र योजना का जिक्र करते हुए छात्रों की पढ़ाई में पूरा सहयोग करने के लिए कहा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बांदरी और खिमलासा में महाविद्यालय खोला जायेगा। खुरई में कृषि महाविद्यालय अगले सत्र में प्रारंभ कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि बीना नदी परियोजना की स्वीकृति दे दी गई है। मालथौन में आई.टी.आई., खुरई में औद्योगिक क्षेत्र और विद्युत मंडल का संभागीय कार्यालय खोला जायेगा। उन्होंने किसानों से बेटा-बेटी को पढ़ाने की अपील की। साथ ही स्वच्छता रखने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि पुलिस में 33 प्रतिशत बेटियों की भर्ती होगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भावान्तर भुगतान योजना को हरी झंडी दिखाकर योजना का शुभारंभ किया। श्री चौहान ने योजना के विक्रय पत्र वितरित किए। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना की अनुदान राशि, लाड़ली लक्ष्मी योजना के प्रमाण-पत्र, मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना के चैक, मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना के चैक, स्वीकृति पत्र और मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत बैंक सखी के रूप में कार्य करने के लिये लैपटॉप वितरित किये। गृह एवं परिवहन मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने कार्यक्रम में बड़ी संख्या में शामिल जनता को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान के कार्यकाल में खुरई क्षेत्र में काफी विकास हुआ है। आज पूरे प्रदेश में भावांतर योजना योजना की एक साथ शुरूआत हो रही है। उन्होंने बीना काम्पलेक्स की मंजूरी सहित विभिन्न विकास कार्यो की स्वीकृति के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। उन्होंने बांदरी एवं बीना के खिमलासा में महाविद्यालय, मालथौन में 60 बिस्तर के अस्पताल एवं आई.टी.आई., खुरई में विद्युत मंडल के संभागीय कार्यालय और बरोदिया में 33 के.व्ही. सब स्टेशन सहित विभिन्न मांगें रखी। उन्होंने खुरई में 100 बिस्तर के अस्पताल के लोकार्पण सहित लगभग 100 करोड़ के विकास कार्यों के लोकार्पण एवं शिलान्यास के लिए मुख्यमंत्री श्री चौहान का आभार माना। कार्यक्रम में पंचायत एवं ग्रामीण विकास, सामाजिक न्याय एवं निःशक्तजन कल्याण मंत्री श्री गोपाल भार्गव, सांसद श्री लक्ष्मीनारायण यादव, विधायक सर्वश्री शैलेन्द्र जैन, महेश राय, श्रीमती पारूल साहू, श्री प्रदीप लारिया, श्री हरवंश सिंह राठौर, महापौर श्री अभय दरे, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती दिव्या अशोक सिंह, म.प्र. हाथकरघा विकास निगम के अध्यक्ष श्री नारायण प्रसाद कबीरपंथी, राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष श्रीमती लता वानखेड़े, भाजपा के जिलाध्यक्ष श्री राजा दुबे, श्री शैलेश केशरवानी सहित अन्य जन-प्रतिनिधि, कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


aaशौर्य स्मारक में भारत माता की भव्य प्रतिमा स्थापित होगी


16 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि शौर्य स्मारक में भारत माता की भव्य प्रतिमा स्थापित की जायेगी। प्रदेश में अदभुत वीर भारत स्मारक बनाया जायेगा जिसमें सम्राट चन्द्रगुप्त से लगाकर वर्तमान तक के वीरों का चित्रण किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ शौर्य स्मारक के प्रथम वर्षगांठ समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में सेना में प्रवेश के लिये युवाओं को प्रशिक्षण देने के लिये प्रशिक्षण केन्द्र खोला जायेगा। अगले वर्ष से शौर्य स्मारक का तीन दिवसीय भव्य स्थापना दिवस समारोह मनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि हमें अपनी सेना पर गर्व है। वर्ष 1962 में चीन ने भारत के एक भू-भाग पर कब्जा कर लिया था परन्तु आज जब डोकलाम में चीन की सेना ने कोशिश की तो हमारी सेना ने उन्हें वापस लौटा दिया। हमारी सेना ने पाकिस्तान में आतंकवादियों को खत्म करने के लिये सर्जिकल स्ट्राइक की। हम अपने वीर जवानों की वीरता को प्रणाम करते हैं और उन्हें यह संदेश देना चाहते हैं कि पूरा देश उनके साथ खड़ा है। हम जब त्योहार मनाते हैं तब हमारे जवान सीमा पर विपरीत परिस्थितियों में हमारी रक्षा करते हैं। वो जागते हैं और हम चैन की नींद सोते हैं। युवाओं को सीमा पर माँ तुझे प्रणाम योजना के तहत भेजा जाता है ताकि वे देख सकें कि हमारे सैनिक किन परिस्थितियों में देश की रक्षा करते हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने जब पिछले वर्ष शौर्य स्मारक का लोकार्पण किया था तब हम शहीद सैनिकों के गांवों से मिट्टी लेकर आये थे जो यहाँ रखी है। हम शहीदों की मिट्टी को नमन करते हैं। इस अवसर पर प्रमुख सचिव संस्कृति श्री मनोज श्रीवास्तव ने स्वागत भाषण दिया। उन्होंने बताया कि विगत एक वर्ष में ग्यारह लाख देशी-विदेशी पर्यटकों ने शौर्य स्मारक का अवलोकन किया है। इस वर्ष शौर्य स्मारक का तीन दिवसीय स्थापना दिवस समारोह मनाया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मध्यप्रदेश के अमर शहीदों के ग्रामों से लायी गयी शौर्य रज को पुष्पांजलि दी। कार्यक्रम में वंदेमारतम और मध्यप्रदेश गान प्रस्तुत किया गया। इस अवसर पर आयोजित कवि सम्मेलन में कविगण सर्व श्री गजेन्द्र सोलंकी, विनीत चौहान, योगेन्द्र शर्मा, शंभुसिंह मनहर, सुमित मिश्रा, अविराज पंकज और श्रीमती रूचि चतुर्वेदी ने कवितायें प्रस्तुत कीं। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में नागरिकगण उपस्थित थे।


aaराज्य मंत्री श्री सारंग द्वारा सीहोर में भावान्तर भुगतान योजना का शुभारंभ


16 October 2017

सहकारिता राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने आज सीहोर जिला मुख्यालय पर कृषि उपज मण्डी प्रांगण में भावांतर भुगतान योजना का शुभारंभ किया। श्री सारंग ने इस अवसर पर कहा कि यह योजना राज्य में किसानों की दशा और दिशा बदल देगी। उन्होंने कहा कि शासन की कृषक हितैषी नीतियों के कारण ही राज्य कृषि क्षेत्र में देश में अग्रणी है। इस अवसर पर राज्य मंत्री श्री सारंग ने उपज विक्रय करने वाले प्रथम पंद्रह कृषकों को प्रमाण पत्र प्रदान किये। कार्यक्रम मे विधायक श्री सुदेश राय, सीसीबी अध्यक्ष श्रीमती उषा सक्सेना, नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती अमीता अरोरा सहित अन्य जनप्रतिनिधि तथा बड़ी संख्या में कृषक उपस्थित थे।


aaचंदेरी सूक्ष्म सिंचाई परियोजना का 17 अक्टूबर को शिलान्यास करेंगे मुख्यमंत्री


16 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मंगलवार, 17 अक्टूबर को अशोक नगर जिले में चंदेरी और ग्राम बड़ेरा के निकट राजघाट बरई में चंदेरी सूक्ष्म सिंचाई परियोजना का शिलान्यास करेंगे। इस अवसर पर जल संसाधन, जनसंपर्क तथा संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र उपस्थित रहेंगे। परियोजना स्थल अशोक नगर जिले के चंदेरी के ग्राम बड़ेरा के पास राजघाट बांध के डाउन स्ट्रीम में स्थित है। इस योजना के क्रियान्वयन से इस अंचल के 81 ग्रामों के किसानों को बेहतर सिंचाई सुविधा प्राप्त होगी। राज्य सरकार द्वारा इस योजना के लिए 389.77 करोड़ रुपए की स्वीकृति प्रदान की जा चुकी है। उल्लेखनीय यह है कि जल संसाधन विभाग सिंचाई रकबा बढ़ाने की दिशा में निरंतर कार्य कर रहा है। चंदेरी सूक्ष्म सिंचाई परियोजना के अंतर्गत राजघाट बांई तट नहर के 400 मीटर पर एक इनटेक स्ट्रक्चर का निर्माण कर सिंचाई के लिए उद्वहन कर भूमिगत पाईप लाईन के माध्यम से सिंचाई जल मुहैया करवाया जाएगा। इसके फलस्वरूप किसानों के खेतों तक पानी ले जाकर सिंचाई करना संभव होगा। परियोजना से प्रस्तावित सैंच्य क्षेत्र 20 हजार हेक्टेयर अर्थात 50 हजार एकड़ में सिंचाई की जा सकेगी। प्रदेश में वर्ष 2003 में मात्र छह-सात लाख हेक्टेयर क्षेत्र में ही सिंचाई सुविधा उपलब्ध थी। निरंतर बढ़े सिंचाई रकबे से उत्पादन में वृद्धि के फलस्वरूप मध्यप्रदेश को निरंतर कृषि कर्मण अवार्ड भी प्राप्त हो रहे हैं


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान को राष्ट्रीय वयोश्रेष्ठ सम्मान सौंपे


14 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को आज यहाँ केन्द्रीय सामाजिक न्याय मंत्रालय द्वारा जिला पंचायत उज्जैन और नगर पालिका नागदा को प्राप्त राष्ट्रीय वयोश्रेष्ठ सम्मान-2017 सौंपे गये। यह सम्मान अंतर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस पर राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद द्वारा दिया गया था। इस अवसर पर संभागायुक्त उज्जैन श्री एम.बी. ओझा और कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे उपस्थित थे।


aaउद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल 15 अक्टूबर को ग्वालियर प्रवास पर


14 October 2017

वाणिज्य, उद्योग एवं रोजगार, खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल 15 अक्टूबर को ग्वालियर के एक‍दिवसीय प्रवास पर रहेंगे। वे इस दौरान वहां आयोजित विभिन्न कार्यक्रम में शामिल होंगे। उद्योग मंत्री माँ कनकेश्वरी देवी की कथा का श्रवण करेंगे। इसके बाद टैक्सटाइल इन्क्यूबेशन सेंटर, ग्वालियर के शिलान्यास कार्यक्रम तथा ए.के.व्ही.एन. की विभिन्न इकाईयों के लोकार्पण तथा शिलान्यास कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे। श्री शुक्ल 15 अक्टूबर की रात्रि में रेल द्वारा सतना के लिए रवाना होंगे। वे 16 अक्टूबर को सतना से रीवा पहुंचेगें।


aaऑनलाइन वेब पोर्टल से 3,16,682 आवेदकों को मिला गुमाश्ता


14 October 2017

मध्यप्रदेश में ऑनलाइन वेब पोर्टल से गुमाश्ता लायसेंस जारी करने की प्रक्रिया शुरू की गई है। वर्ष 2013-14 से शुरू इस प्रक्रिया से अब तक 3 लाख 16 हजार 682 आवेदकों को लाभान्वित किया गया है। पिछले दिनों इसे और सरल बनाते हुए अब आवेदन करने के 24 घंटे में संबंधित को गुमाश्ता लायसेंस देना निश्चित किया गया। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश दुकान एवं स्थापना अधिनियम के तहत ट्रेडिंग और सेवा आदि व्यवसाय और दुकान के लिये गुमाश्ता लायसेंस प्राप्त करना जरूरी है। गुमाश्ता लायसेंस प्राप्त करने वाले हितग्राहियों से हुई चर्चा में पता चला कि अब उन्हें पहले की तरह किसी शासकीय कार्यालय जाने की जरूरत नहीं है। अपने नजदीक के एम.पी. ऑनलाइन कियोस्क से वे आवेदन कर सकते हैं। इतवारा भोपाल के श्री राजेन्द्र शर्मा बताते हैं कि पहले तो बैंक में चालान जमा करना भी टाइम टेकिंग प्रोसेस थी। चालान जमा कर आवेदन की पूर्ति करना, फिर आवेदन के साथ डाक्यूमेंट लेकर श्रम विभाग के दफ्तर जाना और श्रम विभाग द्वारा जाँच के बाद गुमाश्ता जारी होता था, जो महीने से ज्यादा का समय लेता था। अब यह सब नहीं होता। सुबह आवेदन जमा करें। एम.पी. ऑनलाइन वाला बिजली का बिल, आधार-कार्ड और दुकान के साथ वाली फोटो स्केन करके ओरिजनल डाक्यूमेंट वापस कर देता है। वही चालान भी जमा कर देता है। इस पूरी प्रक्रिया में 5-7 मिनट लगते हैं और एक दिन के भीतर मोबाइल पर एसएमएस मिल जाता है कि गुमाश्ता बनकर तैयार है। कोटरा, भोपाल निवासी श्री अशोक जैन के पुत्र श्री सुरेश जैन ने बताया कि उनके पिताजी को अपनी दुकान का गुमाश्ता बनवाने में किसी से मदद नहीं लेना पड़ी। एम.पी. ऑनलाइन से एक दिन में गुमाश्ता मिल गया


aaबांद्राभान में फरवरी माह में नदी महोत्सव आयोजित होगा


13 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश के बांद्राभान में फरवरी माह में नदी महोत्सव आयोजित किया जायेगा। इसमें नदी संरक्षण और पर्यावरण के लिये काम करने वाले अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय पर्यावरणविद् तथा नदी सेवक शामिल होंगे। प्रदेश में नर्मदा नदी के तटों पर आयोजित होने वाले मेलों को व्यवस्थित स्वरूप दिया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ नर्मदा सेवा मिशन की समीक्षा बैठक ले रहे थे। बैठक में मुख्य सचिव श्री बी.पी.सिंह भी उपस्थित थे। बैठक में बताया गया कि नर्मदा नदी में जल गुणवत्ता मापन के लिये 31 स्थानों पर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा हर माह लिये जा रहे नमूनों में सभी स्थानों पर जल की गुणवत्ता ए-ग्रेड की मिली है। नर्मदा से रेत के अवैध उत्खनन को रोकने के लिये खनिज विभाग द्वारा नर्मदा तट के 16 जिलों में एक हजार 465 प्रकरण बनाये गये हैं तथा अवैध खनिज परिवहन करने वाले 76 वाहन राजसात किये गए हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में नर्मदा सेवा मिशन के तहत विभागवार किये गये कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि नर्मदा सेवा मिशन के तहत किये गये कार्यों की हर माह समीक्षा की जायेगी। मिशन के तहत नर्मदा तटों पर लगाये गये पौधों की देखरेख की और उन्हें बचाने की कार्य योजना बनायें। नर्मदा सेवा मिशन के तहत किये गये कार्यों और प्राप्त परिणामों की रिपोर्ट विधानसभा में रखी जायेगी। नर्मदा तट के गांवों को पूरी तरह से खुले में शौच मुक्त करें। नर्मदा के तटों के घाटों पर पोर्टेबल चेंजिंग रूम बनाये जायें। नर्मदा तट के गांवों में नरवाई जलाने से रोकने के लिये जन-जागरण अभियान चलायें। इन गाँवों में नये किसानों को फलदार पौधों की खेती के लिये तैयार करें।
नर्मदा नदी के कैचमेंट क्षेत्र में बनेगी बड़े पैमाने पर तालाब जल संरचनायें-
नर्मदा के तटों पर घाट निर्माण, जीर्णोद्धार और नर्मदा यात्री निवास बनाने की कार्य-योजना तेजी से क्रियान्वित करें। नर्मदा नदी के कैचमेंट क्षेत्र में बड़े पैमाने पर तालाब जल संरचनायें बनायी जायें। इसके लिये नर्मदा घाटी विकास विभाग, वन विभाग और राजस्व विभाग कार्य योजना बनाए। नर्मदा नदी में प्रदूषण नहीं करने के लिये लोगों को जागरूक करें। नर्मदा नदी में गंदे नालों को मिलने से रोकने के लिये 18 सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट निर्माण का कार्य शीघ्र शुरू करें। नर्मदा नदी से उतनी ही रेत का वैज्ञानिक तरीके से उत्खनन हो जिससे पर्यावरण और नदी की पारिस्थितकी को नुकसान नहीं हो। नर्मदा तट के जिन किसानों ने अपने खेतों में फलदार पेड़ लगाये हैं, उन्हें मुआवजा राशि फरवरी माह में कार्यक्रम आयोजित कर दी जाये। नर्मदा तट की पंचायतों में खाद्य प्रसंस्करण की छोटी इकाईयाँ स्थापित करायी जायें।
712 नर्मदा सेवा समितियों का राज्य स्तरीय सम्मेलन आयोजित होगा-
श्री चौहान ने कहा कि आगामी 2 जुलाई को नर्मदा के तटों पर वृहद वृक्षारोपण की तैयारियाँ की जायें। इस वर्ष 12 करोड़ पौधे लगाये जायेंगे। नर्मदा तट की औद्योगिक इकाईयों से नर्मदा नदी में शून्य अपशिष्ट प्रवाहित हो। नर्मदा के तटों पर धार्मिक और आध्यात्मिक पर्यटन विकसित किया जाये। इसके लिये पर्यटन विभाग पैकेज बनाये। नर्मदा तटों के गांवों में नशामुक्ति जागरण का अभियान लगातार चलता रहे। नर्मदा किनारे आयोजित होने वाले मेलों को चिन्हित कर इनके आयोजन को व्यवस्थित स्वरूप दिया जाये। नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान गठित 712 नर्मदा सेवा समितियों का राज्य स्तरीय सम्मेलन आयोजित किया जाये। नर्मदा जयंती के पहले स्कूलों में नर्मदा संरक्षण पर केन्द्रित निबंध, चित्रकला और भजन प्रतियोगितायें आयोजित की जायें।
नर्मदा जल की गुणवत्ता ए-ग्रेड-
बैठक में बताया गया कि नर्मदा नदी के जल की गुणवत्ता की जाँच हर माह प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा 31 स्थानों पर की जा रही है। जाँच में नर्मदा जल की गुणवत्ता ए-ग्रेड की मिली। नर्मदा जल में घुली हुई ऑक्सीजन की मात्रा प्रति लीटर 6 मिलीग्राम और बी.ओ.डी. की मात्रा दो मिली ग्राम पायी गयी। नर्मदा किनारे स्थित सभी 11 उद्योगों में जल उपचार संयंत्र लगाये गये हैं। इसमें से 10 उद्योगों द्वारा नर्मदा में प्रदूषित जल प्रवाहित नहीं किया जाता है जबकि एक उद्योग द्वारा उपचारित जल छोड़ा जाता है। इस तरह नर्मदा नदी प्रदूषण से मुक्त है। नर्मदा के तटों पर वृहद वृक्षारोपण के कार्यक्रम के तहत गत 2 जुलाई को एक दिन में एक लाख 30 हजार स्थानों पर 7 करोड़ 10 लाख पौधे लगाये गये हैं। इन पौधों की देखरेख के लिये पौध रक्षक नियुक्त किये गये हैं तथा गर्मी के मौसम में इन्हें बचाने के लिये मटका सिंचाई की योजना बनायी गयी है। नर्मदा के तटों पर अपने खेतों में फलदार पौधे लगाने वाले किसानों को ड्रिप इरिगेशन के लिये प्रेरित किया जायेगा। नर्मदा तट के सभी गांवों को आगामी 30 नवम्बर तक खुले शौच से मुक्त किया जायेगा। नर्मदा तटों के ग्रामों में विसर्जन कुण्ड और मुक्ति धाम और चेंजिंग रूम बनाये जा रहे हैं।
नर्मदा तट पर 190 घाट और 92 नर्मदा यात्री निवास बनेंगे-
इन गांवों में जैविक खेती के लिये 16 हजार 480 एकड़ में 412 क्लस्टर स्वीकृत किये गये हैं। इन सभी गांवों में दो से चार नाडेप बनाये गये हैं। इनसे जुड़े पाँच हजार एक सौ किसानों को विविध खेती के लिये प्रशिक्षण दिया गया है। इन क्षेत्रों के एक हजार मछुआरों को नदी संरक्षण का प्रशिक्षण दिया गया है। नर्मदा नदी के तटों पर अगले पाँच सालों में 190 घाट और 92 नर्मदा यात्री निवास बनाये जायेंगे। नर्मदा के कैचमेंट क्षेत्र में इस वर्ष करीब डेढ़ हजार जल संरचनायें बनाई जायेंगी। नर्मदा तट के गांवों में 48 गौ शालायें स्वीकृत की गयी हैं। इन गांवों में दोना पत्तल निर्माण और मिट्टी के कुल्हण निर्माण के कुटीर उद्योग के प्रकरण स्वीकृत किये गये हैं।
16 हजार किसानों ने अपने खेतों में लगाये फलदार पौधे-
नर्मदा तट के गांवों में 292 हेक्टेयर क्षेत्र के 425 अतिक्रमण हटाये गये हैं। नर्मदा नदी के तटों के गांवों में 16 हजार किसानों ने अपने खेतों में फलदार पौधे लगाये हैं। नर्मदा कैचमेंट में स्थित जिलों में पॉलीथिन की रोकथाम के लिये की गई कार्रवाई में दो हजार 946 किलोग्राम पॉलीथिन जब्त की गई। साथ ही लोगों को पॉलीथिन के दुष्प्रभाव की जानकारी देने के लिये जनजागरण कार्यक्रम किये गये हैं। नर्मदा तट के ग्राम मेताखेड़ा में उत्खनन में 50 हजार वर्ष पुराने पुरातात्विक अवशेष मिले हैं। प्रदेश के स्कूली विद्यार्थियों ने विगत 23 सितम्बर को नदी संरक्षण का संकल्प लिया है। बैठक में जन-अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पांडे, अपर मुख्य सचिव वित्त श्री ए.पी. श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव ग्रामीण विकास श्री आर.एस. जुलानिया, अपर मुख्य सचिव ऊर्जा श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव नर्मदा घाटी विकास श्री रजनीश वैश सहित नर्मदा सेवा मिशन से संबंधित विभागों के प्रमुख सचिव और वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


aaअमृत परियोजना क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश प्रथम


13 October 2017

मुख्य सचिव श्री बसंत प्रताप सिंह ने आज केंद्रीय आवास एवं नगरीय विकास मंत्रालय में सचिव श्री डी.एस. मिश्रा को प्रदेश में नगरीय विकास एवं आवास विभाग द्वारा क्रियान्वित योजनाओं में प्रगति की जानकारी दी। मंत्रालय में आयोजित प्रस्तुतिकरण में अमृत परियोजना, स्मार्ट सिटी मिशन, स्वच्छ भारत मिशन, प्रधानमंत्री आवास योजना तथा राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के तहत प्रदेश में जारी गतिविधियों पर चर्चा हुई। इस अवसर पर सचिव तथा आयुक्त नगरीय विकास श्री विवेक अग्रवाल तथा विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। बैठक में केंद्रीय सचिव श्री मिश्रा ने कहा कि नगरीय विकास के लिए क्रियान्वित की जाने वाली परियोजनाओं में अधिक से अधिक जनभागीदारी सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि इन परियोजनाओं का उद्देश्य जीवन को बेहतर बनाना है अत: इनके क्रियान्वयन में क्षेत्रीय लोगों को जोड़ना आवश्यक है। परियाजनाओं को केवल इंजीनियरिंग का भाग नहीं मानकर जीवन को बेहतर बनाने के लिए क्रियान्वित की जाने वाली योजनाओं के रुप में देखा जाए। श्री मिश्रा ने अधिक से अधिक लोगों को सकारात्मक रुप से प्रभावित करने वाली परियोजनाओं को प्राथमिकता के आधार पर पूरा करने के निर्देश दिए। केंद्रीय सचिव श्री मिश्रा ने अमृत परियोजना में मध्यप्रदेश की प्रगति और क्रियान्वयन प्रक्रिया की सराहना करते हुए कहा कि प्रदेश ने देश में सर्वश्रेष्ठ परिणाम दिए हैं। नल-जल आपूर्ति , सीवरेज सिस्टम व जल के पुर्नउपयोग तथा स्ट्रीट लाइट के लिए किए जा रहे नवाचारों की जानकारी भी प्रस्तुतिकरण में दी गई। बैठक में पहले दो चरणों में चुनी गई प्रदेश की पाँच स्मार्ट सिटी क्रमश: भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर तथा उज्जैन में जारी गतिविधियों की जानकारी भी दी गई। स्वच्छ भारत मिशन, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन तथा प्रधानमंत्री आवास योजना पर भी प्रस्तुतिकरण दिया गया। केंद्रीय सचिव श्री मिश्रा ने नगरीय इकाईयों में प्राथमिकता के आधार पर पार्क विकसित करने तथा क्षमता विकास में उपयोगिता और आवश्यकता आधारित गतिविधियों जैसे प्लमबर, इलेक्ट्रिशियन, फीजियो थैरेपिस्ट आदि के प्रशिक्षण की व्यवस्था का विस्तार करने की आवश्यकता बतायी।


aaडीजल-पेट्रोल पर वैट में कमी : डीजल पर अतिरिक्त अधिभार समाप्त


13 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेशवासियों को बड़ी राहत देते हुए डीजल और पेट्रोल में लगने वाले वैट की दर में कमी करने की घोषणा की है। उन्होंने डीजल पर डेढ़ रूपये प्रति लीटर के अतिरिक्त अधिभार को भी समाप्त कर दिया है। यह दरें आज मध्यरात्रि से प्रभावशील होंगी। वैट कम होने से डीजल प्रति लीटर जो अभी 63 रूपये 31 पैसे में मिल रहा था, वह अब 59 रूपये 37 पैसे प्रति लीटर के भाव में मिलेगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आम जनता और किसानों की आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर उन्हें राहत देने के उद्देश्य से पेट्रोल और डीजल के भावों में कमी करने का यह निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि डीजल की कीमतें घटने से माल भाड़ा दरें कम होंगी और वस्तुएँ सस्ती होंगी। श्री चौहान ने बताया कि डीजल पर पाँच प्रतिशत वैट में कमी की गयी है। साथ ही डीजल पर लगने वाले अतिरिक्त अधिभार प्रति लीटर एक रूपये पचास पैसे को समाप्त कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि पेट्रोल पर लगने वाले वैट को भी तीन प्रतिशत कम कर दिया गया है।


aaआजकल सतवंती बाई के पाँव जमीं पर नहीं पड़ते


13 October 2017

बालाघाट जिले की मनरेगा की रेशम परियोजना की लाभार्थी सतवंती बाई के पाँव अब जमीन पर नहीं पड़ते। यह फिल्मी गीत जैसा भले ही लगता हो परन्तु है सच। सतवंती की खुशी उस समय देखते ही बनती थी जब प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने स्वयं उसकी सफलता के मॉडल को देखा और उसका राज भी जाना। यह वाक्या है अक्टूबर माह की 11 तारीख को नई दिल्ली स्थित पूसा के मेला मैदान का। प्रधानमंत्री श्री मोदी नानाजी देशमुख के जन्म शताब्दी समारोह के अंतर्गत लगी प्रदर्शनी को देखने आये थे। प्रधानमंत्री को सतवंती ने बताया कि रेशम की खेती से उसकी आय चौगुनी हो गई और उसके परिवार के अच्छे दिन आ गए हैं। प्रधानमंत्री के सामने मॉडल का प्रेजेंटेशन देते हुए बालाघाट जिले के बुदबुदा गाँव की सतवंती ने बताया कि वो पहले परम्परागत खेती में धान, ज्वार आदि की फसल उगाती थी, जिससे सालाना 30 से 35 हजार रुपये की आमदनी हो पाती थी। इतनी कम आय में परिवार की जरूरतें पूरी नहीं हो पाती थी। अब दो एकड़ जमीन में वह पहले से चौगुना मुनाफा कमा रही है। एक साल में चार बार रेशम का उत्पादन कर एक से सवा लाख रुपये सालाना आय हो रही है। इस आमदनी की बदौलत घर की सारी जरूरतें पूरी हो रही हैं। दोनों बच्चे अच्छी तरह पढ़-लिख पा रहे हैं। मेले में सतवंती बाई ने रेशम उपयोजना की सफलता का मॉडल प्रस्तुत कर मध्यप्रदेश का प्रतिनिधित्व किया। कार्यक्रम में सतवंती ने देश के कई राज्यों से आए प्रतिनिधियों को अपनी सफलता की दास्तान सुनाई। सतवंती का कहना है कि प्रदेश सरकार ने उसे मेले में भेजकर प्रतिनिधित्व करने का जो अवसर दिया, उससे वह खुश है। खुशी इस बात की भी है कि प्रधानमंत्री ने उसकी मेहनत को सराहा।


aaभागवती ने 102 गाँवों में 420 स्व-सहायता समूह गठित कराए


13 October 2017

शिवपुरी जिले की ग्राम कमरौआ निवासी भागवती चंदेल का परिवार कल तक दूसरे गाँवों में जाकर मजदूरी करता था। आज भागवती का बेटा गांव में ही अपनी दुकान चलाकर प्रतिमाह 6 से 8 हजार रूपये कमा रहा है। पति सीएलएफ के पद पर काम कर रहा है और 4 हजार 200 रूपये प्रतिमाह कमा रहा है। भागवती ने गाँव में ही दो बीघा जमीन ठेके पर लेकर टमाटर की खेती करना शुरू कर दी है। आज समाज में भागवती का सम्मान है, प्रतिष्ठा है। भागवती के जीवन में यह बदलाव स्व-सहायता समूह से जुड़ने के बाद आया है। पति के विरोध के बावजूद भागवती पास के गांव के संतोषी स्व-सहायता समूह से जुड़ी और सदस्य के रूप में 10 रुपये प्रति सप्ताह जमा करना शुरू किया। समूह से पहली बार 15 हजार रुपये का कर्ज लेकर बेटे की दुकान शुरू कराई। इसके बाद पति को सीएलएफ के पद पर लगवाया। वो अभी तक समूह से 6 लाख रुपये का ऋण ले चुकी है और ब्याज सहित लौटा भी रही है। साथ ही पांच दिवसीय ग्राम ज्योति प्रशिक्षण प्राप्त कर दूसरे गाँवों और जिलों में स्व-सहायता समूह बनाने का प्रशिक्षण दे रही है। आज तक भागवती लगभग 102 गाँवों में 420 स्व-सहायता समूह का गठन करवा चुकी है। इन समूहों के गठन से उसे मानदेय के रूप में 10 हजार से भी अधिक की राशि प्राप्त हुई है। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तथा शिवपुरी जिले के प्रभारी श्री रुस्तम सिंह हाल ही में जनपद पंचायत कोलारस के भ्रमण के दौरान भागवती के अटल इरादों और मेहनत की तारीफ की और उसे महिला सशक्तिकरण का प्रत्यक्ष प्रमाण बताया। मंत्री श्री सिंह ने भागवती को 11 हजार रुपये का पुरस्कार देने की घोषणा भी की है।


aaजुनून और जज्बे से हर क्षेत्र में जीत तय : खेल मंत्री श्रीमती सिंधिया


12 October 2017

खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा है कि हर क्षेत्र में जीत हासिल करने के लिए जुनून और जज्बा आवश्यक होता है। दृढ़ विश्‍वास से ही सफलता हासिल होती है। श्रीमती सिंधिया ने आज नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी की वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता 'विरूद्धका-9' के शुभारंभ के मौके पर कही। खेल मंत्री ने मध्यप्रदेश में खेलों के संदर्भ में जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश के खिलाड़ी आज हॉकी, सेलिंग, घुड़सवारी, शूटिंग जैसे खेलों में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मैडल हासिल कर लगातार देश, प्रदेश तथा अकादमी का नाम रौशन कर रहे हैं। उन्होंने प्रतियोगी खिलाड़ियों को शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि भविष्य में लॉ केम्पस से भी हमें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पदक हासिल करने वाले खिलाड़ी मिलेंगे। इस अवसर पर एनएलआईयू के निदेशक प्रोफेसर डॉ. एस.एस. सिंह, खेल इंचार्ज श्री बलजीत सिंह तथा रजिस्ट्रार श्री रवि पाण्डे उपस्थित थे।


aaबेटियों की निरंतर पढ़ाई की व्यवस्था के लिये मध्यप्रदेश में कानून बनेगा


12 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि लाड़ली लक्ष्मी बेटियों की निरंतर पढ़ाई की व्यवस्था के लिये कानून बनाया जाएगा। बेटियाँ पृथ्वी पर ईश्वर का सबसे बड़ा उपहार हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ मुख्यमंत्री निवास पर लाड़ली शिक्षा पर्व के छात्रवृत्ति वितरण समारोह को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस उपस्थित थीं। प्रदेशभर में आज 65 हजार लाड़ली लक्ष्मी बेटियों को छात्रवृत्ति वितरित की गई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में बेटियों के नियमित स्वास्थ्य परीक्षण की व्यवस्था की जाएगी। बेटियाँ चाहें तो आसमान छू सकती हैं। बेटियाँ ऐसे गुणों का विकास करें जिससे पूरी दुनिया में उनका नाम हो। आज मध्यप्रदेश में 26 लाख 30 हजार लाड़ली लक्ष्मी बेटियाँ हैं। इनके 21 वर्ष के होने पर उनके परिवारों को 31 हजार करोड़ रुपये मिलेंगे। लाड़ली लक्ष्मी योजना में बेटियों के लिये छात्रवृत्ति की व्यवस्था की गई है। प्रदेश की बेटियों को 12वीं कक्षा में 85 प्रतिशत लाने पर लेपटॉप और कॉलेज में प्रवेश लेने पर स्मार्ट फोन दिया जाता है। कक्षा 12 की परीक्षा में 75 प्रतिशत से अधिक अंक लाने के बाद महाविद्यालय में प्रवेश लेने पर उनकी फीस मेधावी विद्यार्थी योजना से भरी जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बेटियों में असीम संभावनाएँ हैं। बेटियाँ चाहें, तो आसमाँ छू सकती हैं। बेटियाँ हमेशा माता-पिता और गुरुजनों का सम्मान करें। बेटियाँ मध्यप्रदेश की ताकत हैं। बेटियों को पुलिस विभाग की भर्ती में 33 प्रतिशत तथा शिक्षकों की भर्ती में 50 प्रतिशत का आरक्षण दिया गया है। स्थानीय निकायों में बेटियों को 50 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है। उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग की भर्ती में बेटियों को ऊँचाई में छूट दी जाएगी। बेटियों के नियमित स्वास्थ्य परीक्षण की व्यवस्था की जाएगी। बेटियों के लिये पाठ्य-पुस्तक, गणवेश और साईकिल प्रदाय की योजना क्रियान्वित की जा रही है। प्रतिभाशाली बेटियों के लिये गाँव की बेटी और प्रतिभा किरण योजना चलायी जा रही है। मुख्यमंत्री ने श्रीमती विजयाराजे सिंधिया का श्रद्धापूर्वक स्मरण किया। महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती चिटनिस ने कहा कि आज 65 हजार से अधिक लाड़ली लक्ष्मी बेटियों ने कक्षा 6वीं में प्रवेश लिया है। इन्हें दो-दो हजार रुपये की छात्रवृत्ति आज वितरित की जा रही है। इन्हें कक्षा नौवीं में 4 हजार तथा कक्षा 11वीं में प्रवेश लेने पर 6 हजार रुपये की छात्रवृत्ति दी जाएगी। लाड़ली लक्ष्मी योजना के सफल 11 वर्ष पूरे हो गये हैं। जिस देश और प्रदेश में बेटियों का सम्मान होता है, वह आगे बढ़ता है। मध्यप्रदेश में बेटियों को केन्द्र में रख कर विकास किया गया है। बेटियों को अवसर मिले तो वे दुनिया में प्रदेश का नाम रौशन करने की क्षमता रखती हैं। आज प्रदेश में बेटियों के जन्म पर खुशियाँ मनायी जाती हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कक्षा 6वीं में प्रवेश लेने वाली लाड़ली लक्ष्मी बेटियों को प्रतीक स्वरूप छात्रवृत्ति के प्रमाण-पत्र वितरित किये। स्वागत भाषण आरंभ में महिला-बाल विकास श्री जे.एन. कंसोटिया ने दिया। कार्यक्रम में राज्य बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष श्री राघवेन्द्र शर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री मनमोहन नागर और मुख्यमंत्री की पत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान सहित बड़ी संख्या में योजना से लाभान्वित बेटियाँ और उनके माता-पिता उपस्थित थे। आयुक्त महिला सशक्तिकरण श्रीमती जयश्री कियावत ने आभार माना।


aaमुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा किसानों से भावांतर भुगतान योजना में पंजीयन कराने की अपील


11 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भावांतर भुगतान योजना का ग्रामीण क्षेत्रों में व्यापक प्रचार-प्रसार कर अधिकाधिक किसानों का पंजीयन किया जाय। इसके लिए गाँवों में मुनादी करवाई जाए तथा प्रचार माध्यमों का समुचित उपयोग भी किया जाए। मुख्यमंत्री ने बताया कि 12 अक्टूबर को वे स्वयं रेडियो के माध्यम से विशेष ग्राम-सभाओं में किसानों से प्रातः 11 बजे चर्चा करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान सीहोर जिला मुख्यालय पर आयोजित किसान सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि योजना का लाभ पंजीयन कराने वाले किसानों को ही मिल सकेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 16 अक्टूबर 2017 को सागर जिले में खुरई तहसील मुख्यालय पर योजना का शुभारंभ करेंगे। उन्होंने कहा कि किसानों को उनकी उपज की वाजिब कीमत दिलाने के लिए ही भावांतर भुगतान योजना आरंभ की गई है। इस योजना में दलहनी, तिलहनी और उद्यानिकी फसलों का किसानों को उचित मूल्य दिलवाने के लिए घोषित माडल दर के अंतर की राशि प्रतिपूर्ति के रूप में सीधे किसान के खाते में जमा कराई जाएगी। श्री चौहान ने जरूरत के मुताबिक क्राप-पैटर्न बदलने की सलाह देते हुए किसानों से कहा कि खेती के लिए उपलब्ध संसाधनों का अधिकतम उपयोग करें। श्री चौहान ने कहा कि पार्वती नदी को नदी जोड़ो अभियान में शामिल किया गया है। किसानों को सिंचाई के लिए पानी अब नहरों के स्थान पर पाइप लाइनों के माध्यम से उपलब्ध कराया जायेगा, क्योंकि नहरों से सिंचाई में काफी मात्रा में पानी व्यर्थ हो जाता है। उन्होंने कहा कि छोटी सिंचाई योजनाएं बनाने पर जोर दिया जायेगा ताकि उपलब्ध जल का अधिकतम उपयोग हो सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि बेघर परिवारों का सर्वेक्षण कर उन्हें जमीन दी जाएगी। आवास बनाने के लिए राशि भी उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि अकेले सीहोर जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना में इस वर्ष 19 हजार मकान बनाकर पात्र लोगों को दिये जा रहे हैं। अगले साल जिले में 20 हजार मकान बनाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि हर पात्र परिवार को उज्ज्वला योजना में गैस कनेक्शन देने का काम पूरे प्रदेश में चल रहा है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर सीहोर तथा इछावर विकासखंड में 66 करोड़ रूपये लागत के 29 कार्यो का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। उन्होंने जिले में स्वच्छता ही सेवा अभियान के दौरान उत्कृष्ट कार्य करने वाली 108 संस्थाओं को 12.75 लाख रूपये प्रोत्साहन राशि का वितरण किया तथा 101 हितग्राहियों को प्रधानमंत्री आवास योजना में गृह प्रवेश के लिए चाबी सौंपी। मुख्यमंत्री ने कन्या महाविद्यालय सीहोर में अगले शैक्षणिक सत्र से स्नात्कोत्तर कोर्स चालू करने की घोषणा की। कार्यक्रम में लोक निर्माण मंत्री एवं जिले के प्रभारी श्री रामपाल सिंह, सांसद श्री आलोक संजर, विधायक श्री सुदेश राय एवं श्री रंजीत सिंह गुणवान, वन विकास निगम के अध्यक्ष श्री गुरू प्रसाद शर्मा, मार्कफेड अध्यक्ष श्री रमाकांत भार्गव, वेयर हाउसिंग अध्यक्ष श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती उर्मिला मरेठा, आदि उपस्थित थे।


aaछात्रावासों में बच्चों के साथ अपनेपन का व्यवहार हो : राज्य मंत्री श्री आर्य


11 October 2017

अनुसूचित-जाति कल्याण एवं जनजाति कार्य राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने आज भोपाल एवं नर्मदापुरम संभाग में विभाग द्वारा संचालित योजनाओं की बिन्दुवार विस्तृत समीक्षा की। श्री आर्य ने अधिकारियों से कहा कि छात्रावासों में सफाई, पुताई, बिजली, पानी, रहने एवं खाने की व्यवस्था बच्चों की संख्या के अनुसार सुनिश्चित की जाए। आकस्मिक निरीक्षण के दौरान अव्यवस्था पाए जाने पर संबंधित के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि बच्चों के साप्ताहिक मीनू को रुचिकर बनाया जाए। जिला एवं संभाग स्तर पर अधिकारी स्वयं छात्रावासों का नियमित रूप से निरीक्षण कर टीप प्रस्तुत करें। श्री आर्य ने कहा कि छात्रावासों के बच्चों की प्रतिभा को निखारने के लिए पाठयक्रम के अतिरिक्त भी रचनात्मक गतिविधियां संचालित की जाएं। बच्चों के लिए निबंध, भाषण, वाद-विवाद, खेल-कूद आदि प्रतियोगिता आयोजित कर विजेताओं को पुरस्कृत किया जाए। बच्चों की रचनाओं को सराहा जाए। पुस्तकालयों में रुचिकर एवं प्रेरणादायी पुस्तकें हों जिन्हें बच्चे उत्सुकता एवं रुचि के साथ पढ़ें। बच्चों को नियमित रूप से सांस्कृतिक, धार्मिक एवं प्राकृतिक पर्यटन-स्थलों की सैर भी कराई जाए। श्री आर्य ने बच्चों के सम्पूर्ण विकास के लिए समन्वित कारगर प्रयास करने के निर्देश दिये। मंत्री श्री आर्य ने समीक्षा के दौरान कहा कि छात्रवृत्ति एवं आवास-भत्ते के प्रकरणों का शत-प्रतिशत निराकरण करें। निर्माण कार्यों का नियमित रूप से निरीक्षण करें तथा कार्यों को समयावधि में पूर्ण कराएं। स्वयंसेवी एवं समाज-सेवी संस्थाओं और संगठनों को छात्रावास एवं बच्चों से जोड़ें। बैठक में प्रमुख सचिव श्री एस.एन. मिश्रा एवं दोनों संभागों के अधिकारी उपस्थित थे।


aaउद्योग संवर्द्धन नीति-2014 में संशोधन की मंजूरी


11 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में जीएसटी व्यवस्था लागू होने के बाद उद्योग संवर्द्धन नीति 2014 में संशोधन की मंजूरी दी गई। प्रदेश में वृहद निवेश प्रस्तावों को आकर्षित करने के लिए कर आधारित सुविधाओं के स्थान पर पूँजी निवेश, रोजगार सृजन एवं निर्यात संवर्द्धन को आधार बनाकर लागत पूँजी अनुदान की योजना 'निवेश प्रोत्साहन सहायता' के नाम से लाई गई है। इस सुविधा अंतर्गत 10 से 40 प्रतिशत तक लागत पूँजी अनुदान दिया जायेगा, जो छोटे निवेशकों को अधिकतम 40 प्रतिशत होगा। जबकि बड़े निवेशकों को 10 प्रतिशत के स्लेब में रखा गया है। वृहद रोजगार सृजन करने वाले एवं निर्यातोन्मुखी उद्योगों को निवेश प्रोत्साहन सहायता अंतर्गत अतिरिक्त सुविधा दी जायेगी।
लोक निर्माण विभाग के 4633 अस्थाई पद स्थायी-
मंत्रि-परिषद ने लोक निर्माण विभाग के 4633 अस्थाई पदों को विभाग की आवश्यकता और निरंतरता को देखते हुए स्थायी करने का निर्णय लिया है।
विशेष पैकेज-
मंत्रि-परिषद ने कुण्डालिया वृहद सिंचाई परियोजना के विस्थापितों को विशेष पुर्नवास पैकेज का लाभ देने का निर्णय लिया। परियोजना राजगढ़ जिले की जीरापुर तहसील में निर्माणाधीन है। इस विशेष पैकेज से 81 करोड 9 लाख का अतिरिक्त लाभ 5994 विस्थापित परिवारों को प्राप्त होगा।
राज्य विधि आयोग का पुनर्गठन-
मंत्रि-परिषद ने राज्य विधि आयोग को पुनर्जीवित करने का निर्णय लिया। राज्य में विधि आयोग का पुनर्गठन कर उसके सुचारु संचालन के लिए 30 पद के सृजन की मंजूरी दी गई।
आनंद संस्थान के लिए अतिरिक्त 8 पद-
मंत्रि-परिषद ने राज्य आनंद संस्थान की पद संरचना तथा कार्यपालन समिति की संरचना में परिवर्तन तथा संशोधन की मंजूरी दी। संस्थान के लिए अतिरिक्त 8 पद के सृजन की अनुमति दी गई। संस्थान की सामान्य सभा को कार्यपालन समिति की संरचना में बदलाव का अधिकार भी दिया गया। संस्था की उपविधियों में सभी आवश्यक संशोधन करने के लिए आवश्यक अधिकार सामान्य सभा को देने का निर्णय भी किया गया।
शासकीय भूमि आवंटित-
मंत्रि-परिषद ने महाप्रबंधक परियोजना एनटीपीसी लिमिटेड खरगोन का प्रस्ताव 2x660 मेगावाट की विद्युत परियोजना के लिए रेलवे पथ निर्माण के लिए तहसील सनावद जिला खरगोन के 21 ग्रामों की कुल 23.180 हेक्टेयर शासकीय भूमि वर्ष 2017-18 की कलेक्टर गाइड लाइन अनुसार प्रीमियम तथा उस पर 7.5 प्रतिशत भू -भाटक लेकर आवंटित करने का निर्णय लिया।
पुरस्कार एवं प्रोत्साहन योजना-
मंत्रि-परिषद ने उच्च शिक्षा विभाग की प्रचलित योजना 'पुरस्कार एवं प्रोत्साहन योजना' को तीन वर्ष में अनुमानित व्यय भार 875 लाख की स्वीकृति एवं योजना को निरंतर रखने की सैद्धांतिक स्वीकृति दी है।
संत श्री सेवालाल महाराज पुरस्कार-
मंत्रि-परिषद ने विमुक्त, घुमक्कड़ एव अर्द्ध घुमक्कड़ जनजाति के उत्थान के लिए उत्कृष्ट कार्य करने वाले समाज सेवक को पुरस्कार योजना नियम 2014 का नामकरण 'संत श्री सेवालाल महाराज' करने की मंजूरी दी।


aaकिसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ दिलाने में तत्परता बरतें


11 October 2017

जनसम्पर्क, जल संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कृषि विभाग और बीमा कम्पनियों के अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि कमजोर वर्षा की स्थिति के कारण किसानों को हुए नुकसान की भरपाई के लिये उन्हें प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ दिलाने में तत्परता बरतें। डॉ. मिश्र ने कहा कि प्रारंभिक आकलन के अनुसार दतिया जिले में खरीफ सीजन में लगभग 7 हजार किसान प्रभावित हुए हैं। इन किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत लगभग 8 करोड़ रुपये की राशि दी जाएगी। डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कहा कि पिछले वर्ष दतिया जिला किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ दिलाने में अग्रणी रहा। जिले के प्रभावित किसानों को करीब 62 करोड़ रुपये की राशि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत राहत स्वरूप प्रदान की गई। उन्होंने कहा कि इस वर्ष भी कमजोर वर्षा से किसानों की फसलों को हुए नुकसान की भरपाई के लिये राज्य सरकार कृत-संकल्पित है।
डॉ. मिश्र युवक-युवती परिचय सम्मेलन में आमंत्रित-
जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र से आज अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज के प्रतिनिधि मंडल ने भेंट कर उज्जैन में 24 दिसम्बर 2017 को होने वाले युवक-युवती परिचय सम्मेलन में शामिल होने के लिये आमंत्रित किया। डॉ. मिश्र ने प्रतिनिधि मंडल से भेंट के दौरान अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज द्वारा प्रकाशित ब्रोशर का विमोचन किया।


aaभूमि-पूजन के बाद तुरंत कार्य शुरू करे


11 October 2017

भूमि-पूजन के बाद तुरंत कार्य शुरू करवायें। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने यह निर्देश नगर निगम द्वारा संचालित कार्यों की समीक्षा के दौरान दिये। श्री गुप्ता ने कहा कि समय पर अनुबंध और कार्य नहीं करने वाले ठेकेदारों के विरुद्ध कार्यवाही करें। उन्होंने कहा कि विधायक निधि के कार्यों की समीक्षा प्रतिमाह कमिश्नर नगर निगम स्वयं करें। श्री गुप्ता ने कहा कि प्रत्येक विधानसभा के लिये अपर आयुक्त स्तर के अधिकारी को नोडल आफिसर बनाया जाये। श्री गुप्ता ने वार्ड 28 और कोटरा में सीवरेज सिस्टम ठीक करवाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत समय-सीमा में करवायें। पंचशील नगर की मुख्य रोड को चौड़ा करने का प्रस्ताव बनाएं। श्री गुप्ता ने कहा कि पेयजल के लिये टैंकर पर निर्भरता खत्म करें। बैठक में नगर निगम कमिश्नर श्रीमती प्रियंका दास एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


aaप्रदेश की प्रतिभाओं का स्थापना सप्ताह में जिला और राज्य स्तर पर होगा सम्मान


10 October 2017

वित्त एवं वाणिज्यिक कर मंत्री श्री जयंत मलैया की अध्यक्षता में मध्यप्रदेश स्थापना सप्ताह के आयोजन के लिए गठित समिति की बैठक आज मंत्रालय में सम्पन्न हुई। बैठक में समिति के सदस्य महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस, राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता और जनसम्पर्क मंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा मौजूद थे। समिति ने सर्व सम्मति से अनुशंसा की कि मध्यप्रदेश की स्थापना सप्ताह के इस वर्ष के कार्यक्रम में प्रदेश की प्रतिभाओं को सम्मानित किया जाये। जिले की ऐसी प्रतिभाएँ जिन्होंने पिछले तीन साल में प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर पर उपलब्धि प्राप्त कर प्रदेश का नाम रोशन किया हो उन्हें सम्बन्धित जिला स्तरीय आयोजन में और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उपलब्धि करने वाली प्रतिभाओं को भोपाल में राज्य स्तरीय आयोजन में सम्मानित किया जाए। जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने स्थापना दिवस के दिन मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का संदेश भोपाल से सभी जिलों में लाइव प्रसारित करवाने का सुझाव दिया। बैठक में अपर मुख्य सचिव जेल और समिति के समन्वयक श्री विनोद सेमवाल समिति सदस्य अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा श्री वी.आर. नायडू, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री एस.के. मिश्रा और श्री अशोक वर्णवाल एवं प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती दीप्ति गौड़ मुखर्जी उपस्थित थे।


aaनर्मदा कालीसिंध लिंक परियोजना को प्रशासकीय स्वीकृति मिली


10 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में सम्पन्न नर्मदा नियंत्रण मण्डल की महत्वपूर्ण बैठक में नर्मदा घाटी में प्रस्तावित 14 हजार 600 करोड़ रूपये लागत की विभिन्न परियोजनाओं के निर्माण के लिये प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई। अनुमोदित परियोजनाओं में मालवांचल के लिये प्रस्तावित महत्वाकांक्षी नर्मदा कालीसिंध लिंक परियोजना भी शामिल है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने कुछ समय पूर्व मालवांचल के लिये इस परियोजना के निर्माण की घोषणा की थी। दो चरणों में निर्मित होने वाली इस परियोजना से देवास, शाजापुर, सीहोर और राजगढ जिले के 366 गांवो की 2 लाख हेक्टेयर कृषि भूमि सिंचित होगी। मालवांचल के लिये ही अनुमोदित नर्मदा क्षिप्रा लिंक बहुउद्देशीय परियोजना से देवास, उज्जैन, नागदा, मक्सी, शाजापुर, घटिया तथा तराना क्षेत्र में 30 हजार हेक्टेयर में सिंचाई होगी। नियंत्रण मण्डल ने मोरण्ड एवं गंजाल संयुक्त सिंचाई परियोजना के लिये भी प्रशासकीय स्वीकृति दी है। इस परियोजना से होशंगाबाद, हरदा तथा खण्डवा जिलों में 52 हजार 205 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। नर्मदा नियंत्रण मण्डल ने नागलवाडी उद्वहन, किल्लोद उद्वहन, पाटी उद्वहन, कोदवार उद्वहन, पिपरी उद्वहन, भुरलाय उद्वहन, पामाखेडी उद्वहन माईक्रो सिंचाई योजनाओं को भी प्रशासकीय स्वीकृति दी। इन उद्वहन माईक्रो सिंचाई परियोजनाओं से 67 हजार 132 हेक्टेयर सिंचाई क्षमता निर्मित होगी। नर्मदा नियंत्रण मण्डल द्वारा अनुमोदित परियोजनाओं पर 14 हजार 600 करोड रूपये का व्यय अनुमानित है। मुख्यमंत्री ने इन परियोजनाओं के निर्माण के लिये सभी औपचारिकतायें प्राथमिकता से पूरी करने के निर्देश दिये हैं। बैठक में नर्मदा घाटी विकास मंत्री श्री लाल सिंह आर्य, राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता, ऊर्जा मंत्री श्री पारसचन्द्र जैन, लोक निर्माण मंत्री श्री रामपाल सिंह और किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन, नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री राकेश साहनी तथा उपाध्यक्ष श्री रजनीश वैश भी उपस्थित थे।


aaजनसम्‍पर्क मंत्री डॉ. मिश्र ने श्री संजय तिवारी के स्वास्थ की जानकारी ली


10 October 2017

जनसम्‍पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र भोपाल में इलाज करवा रहे दतिया निवासी श्री संजय तिवारी से मिलने अस्पताल गये। डॉ. मिश्र ने श्री तिवारी के उपचार के बारे में चिकित्सकों से बातचीत की। जनसम्पर्क मंत्री ने श्री संजय तिवारी के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है।


aaग्रामीण क्षेत्रों में भी लागू होगी ठोस अपशिष्ट प्रबंधन व्यवस्था


10 October 2017

ग्रामीणों के जीवन-स्तर एवं स्वास्थ्य में गुणात्मक सुधार तथा गंदगी-मुक्त मध्यप्रदेश की अवधारणा को क्रियान्वित करने के उद्देश्य से अब ग्रामीण क्षेत्रों में भी ठोस अपशिष्ट प्रबंधन व्यवस्था लागू की जाएगी। यह निर्णय 'गंदगी-मुक्त मध्यप्रदेश'' समिति की आज सम्पन्न बैठक में लिया गया। बैठक में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव और नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह उपस्थित थीं। बैठक में जानकारी दी गई कि ग्रामीण क्षेत्रों में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के लिए प्रदेश के 51 हजार 714 गाँवों को लगभग 2500 समूहों में बाँट कर क्लस्टर आधारित योजना का संचालन किया जाएगा। स्थानीय युवाओं को स्वच्छता सेवी के रूप में मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना के तहत वाहन खरीदने के लिए आर्थिक सहायता दी जाएगी। लाभार्थी स्वच्छता सेवियों के साथ कचरा संग्रहण, परिवहन, पृथक्कीकरण और प्र-संस्करण का तीन वर्ष के लिए अनुबंध किया जाएगा। शासन द्वारा इन सेवियों को प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाएगा। ग्रामीण ठोस अपशिष्ट प्रबंधन व्यवस्था के तहत क्लस्टर स्तर पर ही कचरे का संग्रहण, परिवहन, पृथक्कीकरण और प्र-संस्करण की व्यवस्था होगी तथा शासन द्वारा क्लस्टर स्तर पर पृथक्कीकरण एवं प्र-संस्करण केन्द्र का निर्माण किया जाएगा। साथ ही शासन द्वारा जनपद स्तर पर प्लास्टिक प्र-संस्करण केन्द्र की भी स्थापना की जाएगी। प्लास्टिक कचरे के प्र-संस्करण एवं विपणन के लिए महिला स्व-सहायता समूह को प्रशिक्षित किया जाएगा।
कचरे का संग्रहण एवं परिवहन-
स्वच्छता सेवी द्वारा आबंटित क्लस्टर के गाँवों में निर्धारित समय एवं स्थान पर कचरे का संग्रहण किया जाएगा। संग्रहीत कचरे को स्वच्छता वाहन के माध्यम से पृथक्कीकरण एवं प्र-संस्करण केन्द्र पर लाया जाएगा, जिसमें कचरे का वजन कर रजिस्टर में दर्ज किया जाएगा। क्लस्टर के प्रत्येक परिवार से 5-10 रुपये एवं दुकानों और संस्थानों से 20-25 रुपये प्रति माह सेवा शुल्क लिया जाएगा। विवाह और अन्य सामाजिक/पारिवारिक आयोजनों में एकमुश्त 100 रुपये सेवा शुल्क आयोजको से लिया जाएगा।
कचरा प्र-संस्करण और निष्पादन-
ग्रामीण क्षेत्रों के स्वच्छता सेवी क्लस्टर स्तर पर ही जैविक कचरे का विभिन्न प्र-संस्करण तकनीक के माध्यम से उपचार कर जैविक खाद का उत्पादन करेंगे, जो स्थानीय किसानों को 10 रुपये प्रति किलो की दर से 5 किलो की थैलियों में उपलब्ध होगा। जनपद पंचायत द्वारा निविदा प्रक्रिया के माध्यम से पुनर्चक्रण योग्य वस्तुओं के क्रय मूल्य तथा क्रयकर्ता का निर्धारण किया जाएगा। कचरे के निष्पादन में अजैविक तथा पुनर्चक्रण योग्य कचरे को अलग किया जाएगा। जैविक खाद तथा पुनर्चक्रण योग्य कचरे के विक्रय से हुई आय स्वच्छता सेवी को लाभांश के रूप में प्राप्त होगी। अजैविक तथा पुनर्चक्रण हेतु अयोग्य कचरे का निष्पादन विशेष रूप से खोदे गए गड्ढे में वैज्ञानिक तरीके से किया जाएगा। प्लास्टिक के कचरे को प्लास्टिक प्र-संस्करण केन्द्र पर विभिन्न तकनीक से उपचारित कर निष्पादित किया जाएगा। इसके विक्रय से हुई आय स्व-सहाया समूह की महिलाओं को लाभांश के रूप में मिलेगी। पंचायत सचिव तथा जनपद के मुख्य कार्यपालन अधिकारी इसकी नियमित निगरानी करेंगे। बैठक में अपर प्रमुख सचिव, पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री आर.एस. जुलानिया, प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री मनोज गोविल, प्रमुख सचिव जल-संसाधन श्री पंकज अग्रवाल तथा सचिव नगरीय विकास श्री विवेक अग्रवाल उपस्थित थे।


aa30 नवम्बर तक होगी क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत


10 October 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने दक्षिण-पश्चिम विधानसभा क्षेत्र की सड़कों की स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि रंगमहल से पलाश होटल तक सड़क का चौड़ीकरण करें। मुख्य अभियंता लोक निर्माण विभाग श्री वैद्य ने बताया कि 30 नवम्बर तक सभी क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत करवा दी जाएगी। राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने जवाहर चौक से एम.एल.ए. क्वार्टर होते हुए गुरू तेगबहादुर काम्प्लेक्स तक सड़क के चौड़ीकरण का प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने यूनिक कॉलेज से 12 दफ्तर होते हुए वार्ड-25 तक सड़क, वायरलेस कॉलोनी, 57 की लाइन और 64 की लाइन की सड़कों की मरम्मत करवाने के निर्देश दिए। श्री गुप्ता ने हॉक फोर्स आफिस पहुंच मार्ग और 64 की लाईन के अन्दर से प्रेमपुरा मार्ग के निर्माण के भी निर्देश दिए। बैठक में लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण यंत्री श्री खांडे और कार्यपालन यंत्री श्री पंकाज व्यास उपस्थित थे।


गुरु गोविंद सिंह' सभागार में होगी संघ की बैठक
Our Correspondent :9 October 2017
भोपाल, 9 अक्टूबर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक के लिए शारदा विहार, भोपाल में तैयारियां लगभग पूर्ण हो रही हैं। बैठक कक्ष का नाम गुरु गोविंद सिंह के नाम पर रखा गया है। गुरु गोविंद सिंह का यह 350वां जयंती वर्ष है। तीन दिवसीय बैठक के दौरान कार्यकारी मंडल द्वारा संघ के कार्यों की समीक्षा की जाएगी और देश के समसामयिक विषयों पर विचार किया जाएगा। संघ के मध्यभारत प्रांत के प्रचार प्रमुख दीपक शर्मा ने प्रेसवार्ता में यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक के लिए सभी आगंतुक 11 अक्टूबर की शाम तक भोपाल आ जाएंगे। बैठक का उद्घाटन 12 अक्टूबर को सुबह और समापन 14 अक्टूबर को होगा। संघ के सरसंघचालक माननीय डॉ. मोहन भागवत और सरकार्यवाह माननीय सुरेश भैय्याजी जोशी भोपाल आ चुके हैं। सहसरकार्यवाह मा. सुरेश सोनी, मा. डॉ. कृष्ण गोपाल, मा. दत्तात्रेय होसबाले और मा. वि. भागय्या भी शारदा विहार आ चुके हैं। उन्होंने बताया कि अखिल कार्यकारी मंडल एवं क्षेत्र प्रचारकों की बैठक 10 अक्टूबर होगी। वहीं, 11 अक्टूबर को प्रांत प्रचारक भी बैठक में शामिल हो जाएंगे। बैठक स्थल पर एक प्रदर्शनी का आयोजन भी किया जा रहा है। प्रदर्शनी में पद्मभूषण कुशोक बकुल रिनपोछे के जीवन दर्शन को दिखाया जाएगा। यह उनका जन्मशताब्दी वर्ष है। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में शिक्षा के प्रसार और समाज सुधार के लिए महत्वपूर्ण कार्य किया। इसके साथ ही 350वीं जयंती के उपलक्ष्य में गुरु गोविंद सिंह और 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में भगिनी निवेदिता के जीवन दर्शन को भी प्रदर्शित किया जाएगा। संघ के संस्थापक डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार के संबंध में भी चित्र प्रदर्शित किए जाएंगे। प्रांत प्रचार प्रमुख श्री शर्मा ने बताया कि बैठक में देशभर के 11 क्षेत्रों और 42 प्रांतों से संघ के लगभग 300 प्रतिनिधि कार्यकर्ता शामिल होंगे। इनमें प्रांत संघचालक एवं प्रांत प्रचारक स्तर तक के अधिकारी शामिल हैं। उन्होंने बताया कि बैठक में संघ की कार्ययोजना पर विमर्श होगा। पिछले छह माह में संघ के काम का कितना विस्तार हुआ, इस संबंध में प्रांत के अधिकारी वृत्त प्रस्तुत करेंगे। संघ की शाखाओं, मिलन और मंडलों की अद्यतन जानकारी एकत्र की जाएगी। पिछले समय में संघ ने जिन सामाजिक कार्यों को विशेष तौर पर अपनी कार्ययोजना में शामिल किया था, उनका भी मूल्यांकन किया जाएगा। बैठक की और अधिक जानकारी के लिए 11 अक्टूबर को शाम 4 बजे कार्यक्रम स्थल पर प्रेसवार्ता का आयोजन किया जाएगा।


aaप्रदेश में 1650 ग्राम नल-जल योजनाएं शुरु होगी : मुख्यमंत्री श्री चौहान


9 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मुख्यमंत्री ग्राम नल-जल योजना में प्रस्तावित सभी 1650 नल-जल योजनाएं अभियान के रूप में आगामी फरवरी माह तक शुरु की जाएं। प्रदेश के हर गांव में और हर घर में बिजली उपलब्ध करायी जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहां प्रगति ऑन लाइन वीडियो कान्फ्रेंस के तहत बड़ी परियोजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा कर रहे थे। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रस्तावित सभी नल-जल योजनाओं के लिये पेयजल स्रोत विकसित करने का काम आगामी जनवरी माह तक पूरा कर लिया जाए। प्रदेश के सभी घरों में बिजली पहुंचाने के लिये युद्ध-स्तर पर काम करें। प्रधानमंत्री आवास योजना में गरीब हितग्राहियों को आवास उपलब्ध कराने का कार्य प्राथमिकता से करें। बड़ी सड़क परियोजनाओं की प्रगति की जानकारी लेते हुए मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये की सिवनी-कटंगी सड़क का निर्माण समय-सीमा में पूरा किया जाए। मेडिकल कॉलेज रतलाम को आगामी 2018 सत्र से शुरु करने के लिये निर्माण कार्यों के साथ रिक्त पदों की पूर्ति का काम प्राथमिकता से पूरा करें। प्रदेश में निर्माणाधीन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों के भवनों का निर्माण आगामी मार्च 2018 तक पूरा किया जाए। इस मौके पर बताया गया कि प्रदेश के 2 हजार 379 ग्रामों के लिये 1650 ग्राम नलजल योजनाएं प्रथम चरण में बनायी जाएगी। प्रदेश में दस एकलव्य आवासीय विद्यालयों के भवन निर्माणाधीन हैं। वर्तमान में 23 जिलों में 35 एकलव्य आवासीय विद्यालय भवन हैं। दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना में प्रदेश में 23 सब-स्टेशन बनाये जा रहे हैं। तरपेड मध्यम सिंचाई परियोजना की मुख्य नहर निर्माण का कार्य आगामी 15 जून तक पूरा हो जाएगा। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत कटनी में 4 हजार 362, बालाघाट में 1 हजार 404, सिवनी में 1 हजार 210 और रतलाम में 8 हजार 560 हितग्राहियों को आवास उपलब्ध कराये जाएंगे। सिवनी में वर्ष 2005 में गृह निर्माण मंडल द्वारा बनाये गए बायपास को लोक निर्माण विभाग को सौंपा जाएगा। प्रदेश में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भवनों के स्वीकृत 344 कार्यों में से 325 पूर्ण हो गये हैं।
भावांतर भुगतान योजना में पंजीयन के लिये विशेष ग्रामसभा-
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संभागायुक्तों और कलेक्टरों को निर्देश दिये की भावांतर भुगतान योजना में पंजीयन के लिये आगामी 12 अक्टूबर को सभी पंचायतों में विशेष ग्राम सभाएं आयोजित की जाएं। भावांतर भुगतान योजना में किसानों के पंजीयन के लिये युद्ध-स्तर पर अभियान चलाएं। आगामी 15 अक्टूबर तक सभी पात्र किसानों का पंजीयन सुनिश्चित करें। भावांतर भुगतान योजना राज्य सरकार की किसानों के हित में महत्वाकांक्षी योजना है। अब तक योजना में 6 लाख 34 हजार किसानों का पंजीयन हुआ है। यह योजना आगामी 16 अक्टूबर से प्रदेश में लागू हो रही है। इस दिन प्रदेश की 257 मंडियों में योजना की शुरुआत के लिये कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे। उन्होंने आगामी 1 नवम्बर को मध्यप्रदेश स्थापना दिवस को भव्यरूप से मनाने के निर्देश दिये। प्रदेश में आगामी 12 अक्टूबर को आयोजित होने वाले लाड़ली लक्ष्मी पर्व को समारोह पूर्वक मनाने के निर्देश दिये। श्री चौहान ने लोक सेवा प्रदाय गारंटी अधिनियम के तहत निश्चित समय सीमा में सेवाएं प्रदाय की मॉनीटरिंग करने के लिये कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि नर्मदा सेवा मिशन के तहत संबंधित विभागों द्वारा किये गये कार्यों की समीक्षा आगामी 12 अक्टूबर की जाएगी। वीडियो कान्फ्रेसिंग के दौरान अपर मुख्य सचिव वन श्री दीपक खाण्डेकर, अपर मुख्य सचिव ऊर्जा श्री इकबाल सिंह बैंस, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णवाल तथा संबंधित विभागों के प्रमुख सचिव भी उपस्थित थे।


aaमध्यप्रदेश की भूमि वास्तव में रत्नगर्भा है - श्री राजेन्द्र शुक्ल


9 October 2017

खनिज एवं उद्योग मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने आज मुबई में खनिज विभाग तथा भारतीय खनिज उद्योग फेडरेशन द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित खनिज नीलामी पूर्व बैठक में कहा कि म.प्र. एक रत्नगर्भा राज्य है, जहां कोयला, चूना पत्थर, लौह अयस्क, बॉक्साइट तथा हीरे के प्रचुर भण्डार उपलब्ध हैं। ऐसे ही 10 भण्डारों के खनिज की नीलामी शीघ्र ही प्रस्तावित है। इनमें दमोह, धार एवं सतना के चूना पत्थर के दो-दो, रीवा और बालाघाट के बॉक्साइट, जबलपुर के लौह अयस्क तथा छतरपुर के हीरा खदानों की नीलामी प्रस्तावित है। इस संदर्भ में संबंधित कम्पनियों से विचार-विमर्श एवं सुझाव आमंत्रित किये गये, जिसमें संयुक्त राष्ट्र अमेरिका, दुबई तथा इंग्लैण्ड के हीरा खनन व्यापारियों के साथ-साथ अंबुजा, प्रिज्म, अल्ट्राटेक, एसीसी इत्यादि सीमेंट कम्पनियों ने अपनी शंकाओं का निरसन किया। श्री राजेन्द्र शुक्ल ने बताया कि मध्यप्रदेश भारत देश की ह्रदयस्थली होने के साथ-साथ अकूत खनिज सम्पदायुक्त प्रदेश है। प्रदेश में कोयला, चूना पत्थर, मैगनीज, लौह अयस्क, हीरा एवं बॉक्साइट खनिज के भण्डार प्रचुर मात्रा में विद्यमान हैं तथा प्रदेश में खनिज आधारित उद्योग स्थापित हैं, जिनसे राज्य शासन को राजस्व प्राप्त होता है तथा जन-सामान्य के सामाजिक-आर्थिक उत्थान के लिए रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने का अतिरिक्त माध्यम है। खनिज एवं उद्योग मंत्री ने जानकारी दी कि प्रथम चरण की नीलामी राज्य शासन द्वारा वर्ष 2016 में की गई थी, जिसमें हातुपुर हीरा खनिज खण्ड जिला दमोह के साथ तीन अन्य चूना पत्थर खनिज खण्डों की नीलामी की गई थी। हातुपुर खनिज खण्ड को समेकित अनुज्ञप्ति के माध्यम से बंसल ग्रुप को आंबटित किया गया, जिसका संसाधन मूल्य 107 करोड़ रुपये आंकलित कर उच्चतम बोली के आधार पर 22.31 प्रतिशत आरक्षित मूल्य के समतुल्य राशि 22.87 करोड रुपये राजस्व आय संभावित है। श्री शुक्ल ने बताया कि वर्ष 2017 में राज्य शासन द्वारा सितम्बर-अक्टूबर माह में 10 खनिज खण्डों की द्वितीय चरण की नीलामी किया जाना प्रस्तावित है, जिसमें बक्सवाहा हीरा खनिज खण्ड छतरपुर को शामिल किया गया है। सभी खनिज खण्डों को खनि-पट्टा के रूप में नीलाम किया जायेगा। इस तरह कुल 10 खनिज खण्डों के कुल संसाधन मूल्य का आंकलन 65 हजार 758 करोड़ किया गया है। इसमें से अकेले हीरा खनिज खण्ड का संसाधन मूल्य 60 हजार 687 करोड़ रुपये आंकलित किया गया है। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त जबलपुर जिले में आयरन और सतना, धार एवं दमोह में चूना पत्थर, रीवा और बालाघाट जिले में बॉक्साइट खनिज खण्डों को नीलामी में शामिल किया गया है। ये समस्त खनिज खण्ड 50 वर्ष की अवधि के लिए खनि-पट्टा के रूप में नीलाम किये जाएंगे। बैठक में मध्यप्रदेश शासन के खनिज विभाग के प्रमुख सचिव श्री मनोहरलाल दुबे, संचालक श्री विनीत कुमार ऑस्टिन, श्री एन.के. हंस तथा श्री राकेश कुमार श्रीवास्तव उपस्थित थे


aaस्वास्थ्य मंत्री श्री रूस्तम सिंह ने श्योपुर और मुरैना में किया सघन मिशन इंद्रधनुष का शुभारंभ


9 October 2017

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री रूस्तम सिंह ने कल श्योपुर और मुरैना में सघन मिशन इंद्रधनुष का शुभारंभ किया। लोगों का आव्हान करते हुये श्री सिंह ने कहा इस टीकाकरण अभियान में 'सात बार आना है, आठ वेक्सीन लगवाना है, नौ बीमारियों से बचाना है'। श्री सिंह ने कहा कि शिशु-मातृ मृत्यु दर को कम करने के उद्देश्य से यह अभियान अक्टूबर से जनवरी तक चार चरणों में चलेगा। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि 5 वर्ष तक के शत-प्रतिशत बच्चों को सात बार में आठ प्रकार का टीकाकरण किया जायेगा, जिससे नौ प्रकार की जान लेवा बीमारियों से बचाव होगा। श्री सिंह ने बताया कि श्योपुर जिले में जिला चिकित्सालय को 100 से 200 बिस्तर का किया गया है और नये उप स्वास्थ्य केन्द्र खोले गये है। उन्होंने इस अवसर पर 4 करोड़ 74 लाख रूपये के छ: निर्माण कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास भी किया। उन्होंने बताया कि श्योपुर जिले में एक लाख 19 हजार 15 घरों का सर्वे कर टीकाकरण के लिये 2 वर्ष तक के 33 हजार 320 बच्चे और 11 हजार 406 गर्भवती महिलाओं को चिन्हित किया गया है। श्री सिंह ने बच्चों को पोलियो ड्रॉप्स भी पिलाई। श्री सिंह ने मुरैना में अभियान का शुभारंभ करते हुए कहा कि सघन मिशन इन्द्रधनुष में केन्द्र शासन द्वारा चिन्हित 13 जिलों में मुरैना शामिल नहीं है, लेकिन जिले के कुछ उप स्वास्थ्य केन्द्रों में टीकाकरण का प्रतिशत 80 प्रतिशत से कम है। इन केन्द्रों में शत-प्रतिशत लक्ष्यों की पूर्ति के लिए विशेष कैच अप अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने जिला चिकित्सालय में 7 लाख रुपये की लागत वाली डिजिटल एक्सरे मशीन का शुभारंभ भी किया। कार्यक्रम में श्री सिंह ने 10 शिशुओं का टीकाकरण कराया और पोलियो ड्रॉप पिलाई।


aaबड़वानी, मंडला, अनूपपुर में भी वन्या के सामुदायिक रेडियो स्टेशन शुरू होंगे


9 October 2017

जनजाति कार्य एवं अनुसूचित जाति कल्याण राज्य मंत्री श्री लाल सिंह आर्य ने बड़वानी, मंडला और अनूपपुर जिले में भी वन्या के सामुदायिक रेडियो स्टेशन स्थापित करने के निर्देश दिये हैं। श्री आर्य आज 'वन्या' की कार्यकारिणी समिति की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आदिवासी क्षेत्रों में अभी 8 रेडियो स्टेशन चल रहे हैं। इसके विस्तार के लिये स्टेशनों को बढ़ाने की आवश्यकता है। इस मौके पर प्रमुख सचिव श्री एस.एन. मिश्र और प्रबंध संचालक वन्या श्री राकेश सिंह मौजूद थे। श्री आर्य ने कहा कि रेडियो पर आदिवासियों की हितकारी योजनाओं का प्रसारण किया जाए। प्रसारण के पूर्व कार्यक्रमों की पूर्व सूचना भी जारी की जाए। बैठक में बताया गया कि सामुदायिक रेडियो स्टेशनों से 5-5 घंटे सुबह-शाम प्रसारण किया जा रहा है। इसमें ढ़ाई घंटे स्थानीय भाषा और ढ़ाई घंटे हिन्दी भाषा में जानकारियाँ दी जा रही हैं। राज्य मंत्री श्री आर्य ने ईपिक चेनल के लिए बने एपीसोड को प्रसारण के पूर्व समिति से अनुमोदित करवाने को कहा। उन्होंने तथ्यात्मक जानकारी के लिये विषय विशेषज्ञ को आमंत्रित कर सलाह-मशहरा करने के निर्देश दिये। श्री आर्य ने कहा कि महापुरुषों पर बनाई गई फिल्म का प्रसारण बाल संसद जैसे कार्यक्रमों में भी किया जाए। आश्रम, शालाओं और छात्रावासों में फिल्म की प्रति उपलब्ध करवाकर समय-समय पर प्रसारित की जाए। बैठक में पिछली कार्यकारिणी समिति का पालन प्रतिवेदन, वन्या प्रकाशन के सेटअप, लेखा संबंधी सहित अन्य विषयों पर चर्चा की गई। राज्य मंत्री श्री आर्य ने 'समझ झरोखा' पत्रिका विधायकों, सांसदों, जिला पंचायत अध्यक्षों सहित अन्य जन-प्रतिनिधियों को भी उपलब्ध कराने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि पत्रिका में खेल, सामान्य ज्ञान सहित महापुरुषों से संबंधित विषयों का समावेश भी किया जाए। उन्होंने कहा कि इसमें माह के त्यौहार, भारतीय संस्कृति और महापुरुषों के कोटेशन का उपयोग करके भी इसे और रोचक बनाया जा सकता है। श्री आर्य ने कहा कि 'समझ झरोखा' पत्रिका को ऑनलाइन भी किया जाए। इसे विभागीय वेबसाइट एवं सोशल मीडिया पर भी अपलोड करें। पत्रिका में बच्चों की रचनाओं का भी समावेश किया जाए। राज्य मंत्री श्री आर्य ने सामुदायिक रेडियो के श्रोताओं के लिए संदेश रिकार्ड करवाया। इसके पूर्व उन्होंने रिकार्डिंग रूम का निरीक्षण कर आवश्यक जानकारियाँ प्राप्त की।


aaराजस्व मंत्री श्री गुप्ता से निपी टीम ने की मुलाकात


9 October 2017

राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने सुबह काटजू और जे.पी. हास्पिटल में मरीजों की समस्याएँ सुनीं। जे.पी. हास्पिटल में नार्वे इण्डिया पार्टनरशिप इनीशिएटिव (निपी) के सदस्यों ने राजस्व मंत्री से भेंट की। टीम में भारत में नार्वे के राजदूत, काउंसलर हेल्थ और अन्य सदस्य शामिल थे। निपी की टीम प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने के क्षेत्र में कार्य कर रही है। टीम के सदस्यों ने राजस्व मंत्री द्वारा प्रति सोमवार अस्पताल में मरीजों की समस्याएं सुनने की व्यवस्था की सराहना की। श्री गुप्ता ने शासन की ओर से निपी को हर संभव सहयोग का आश्वासन दिया। इस दौरान स्थानीय जन प्रतिनिधि उपस्थित थे। विकास कार्यों की समीक्षा मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने विकास कार्यों की विस्तृत समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने नेहरू नगर में विज्ञान भवन के सामने स्थित मैदान को मेला स्थल के रूप में विकसित करने के निर्देश दिये। श्री गुप्ता ने बरखेड़ी से बीलखेड़ा मार्ग का कार्य प्रारंभ करवाने तथा नेहरू नगर से चूना भट्टी मार्ग का सौंदर्श्यीकरण एवं विद्युतीकरण करवाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि पार्कों की देखरेख नियमित रूप से करें। बैठक में सी.पी.ए. के अधिकारी उपस्थित थे


aaटीकाकरण बच्चों की जिन्दगी बचाने का प्रयास – मुख्यमंत्री श्री चौहान


8 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि टीकाकरण अभियान बच्चों की जिन्दगी बचाने का प्रयास है। उन्होंने कहा कि सरकार के प्रयास की सफलता के लिये समाज का सहयोग बहुत जरूरी है। केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण मंत्री श्री थावरचंद गेहलोत ने कहा कि अभियान के तहत पूर्ण टीकाकरण करने वाली पंचायतें पुरस्कृत होंगी। टीकाकरण के विशेष अभियान के प्रभावी संचालन में भी मध्यप्रदेश अग्रणी रहेगा। मुख्यमंत्री निवास में आयोजित सघन मिशन इंद्रधनुष शुभारंभ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री और केन्द्रीय मंत्री ने बच्चों को दवा पिलाकर टीकाकरण अभियान की शुरूआत की। इस अवसर पर मोबाइल टीम को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया गया। स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को सात प्रकार के टीकों की जानकारीयुक्त सतरंगी छतरियाँ भी भेंट की गई। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि टीकाकरण बच्चों की जिन्दगी को अपंगता से बचाने का प्रयास है। यह मानवता की बड़ी सेवा है। अभियान को सफल बनाने के लिये जरूरी है कि समाज का हर व्यक्ति, वर्ग और समुदाय टीकाकरण में सहयोग करने के लिये आगे आये। उन्होंने नागरिकों, जनप्रतिनिधियों, समाजसेवियों और प्रबुद्धजनों का आव्हान किया कि उनके आसपास एक भी बच्चा टीकाकरण से वंचित नहीं रहने पाये। उन्होंने कहा कि टीकाकरण का विशेष अभियान केन्द्र और राज्य सरकार के सहयोग से संचालित किया जा रहा है। अभियान के दौरान टीकाकरण और जन-जागरण के प्रयास किये जाएंगे। मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश के 13 जिलों और 89 अनुसूचित जनजाति विकासखण्डों में अभियान को फोकस किया जायेगा। केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण मंत्री श्री थावरचंद गेहलोत ने कहा कि केन्द्रीय योजनाओं के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश का प्रदर्शन अग्रणी रहा है। मातृ एवं शिशु मृत्यु दर को कम करने में भी मध्यप्रदेश में प्रभावी प्रयास हुए हैं। उन्होंने आशा व्यक्त की कि अभियान संचालन में भी प्रदेश अग्रणी रहेगा। उन्होंने बताया कि अभियान के अंतर्गत जिलों में पूर्ण टीकाकरण की उपलब्धि प्राप्त करने वाली ग्राम पंचायत को दो लाख रूपये का पुरस्कार दिया जायेगा। टीकाकरण में पिछड़े जिलों में सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान संचालित किया जा रहा है। यह अभियान मातृ-शिशु मृत्यु दर को कम करने का प्रयास है। अभियान का संचालन योजनाबद्ध तरीके से चरणों में किया जाएगा। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी स्वयं गुजरात के बड़नगर जिले से अभियान का शुभारंभ कर रहे हैं। शुभारंभ कार्यक्रम में यूनिसेफ मध्यप्रदेश के प्रमुख श्री माईकल जूमा ने कहा कि पूर्ण टीकाकरण प्रभावी प्रयास है। उन्होंने प्रदेश सरकार के अभियान की सफलता के लिये की गई अभिनव पहल की सराहना की। कार्यक्रम में बताया गया कि दूर-दराज के क्षेत्रों तक टीकाकरण पहुंचाने हेतु राज्य सरकार द्वारा देश में अपनी तरह की विशेष पहल की है। प्रदेश के सभी 89 अनुसूचित जनजाति विकासखण्डों में टीकाकरण के लिये 941 मोबाइल टीम का गठन किया गया है। अभियान के दौरान 2 हजार 668 स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के माध्यम से नवजात से दो वर्ष तक की उम्र के 90 हजार बच्चों और 23 हजार 234 गर्भवती महिलाओं को टीकाकरण की सेवाएँ 13 जिलों में दी जाएगी। कार्यक्रम में आयुक्त लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्रीमती पल्लवी जैन गोविल, सचिव लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्री कवीन्द्र कियावत, यूनिसेफ मध्यप्रदेश के संचार विशेषज्ञ श्री अनिल गुलाटी भी मौजूद थे।


aaमहिलाओं को पुलिस आरक्षक भर्ती में मिलेगी ऊँचाई में छूट


8 October 2017

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महिलाओं को आर्थिक और सामाजिक रूप से सशक्त बनाने के व्यापक उपाय किये गये हैं। माँ-बहन और बेटियों का जीवन सुखमय बनाने के लिये राज्य सरकार कोई कोर-कसर बाकी नहीं रखेगी। उन्होंने समाज से आव्हान किया कि बाल विवाह एवं दहेज प्रथा जैसी कुरीतियों को दूर करने, बेटा-बेटी को समान महत्व देने और विधवा विवाह को प्रोत्साहित करने आगे आयें। मुख्यमंत्री आज यहाँ दिल से कार्यक्रम में आकाशवाणी और दूरदर्शन पर माताओं-बहनों और बेटियों से संवाद कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि विधवा विवाह में दो लाख रूपये की सहायता दी जायेगी एवं विधवा पेंशन में बीपीएल का बंधन समाप्त किया जायेगा। उन्होंने आदिवासी बहुल विकासखण्डों में सेनेटरी नेपकिन आधी कीमत पर उपलब्ध करवाने, पुलिस आरक्षक भर्ती में महिलाओं को ऊँचाई सहित शारीरिक मापदण्ड में छूट देने, शासकीय सेवा में कार्यरत पति-पत्नी को यथासंभव एक स्थान पर पदस्थ करने, माँ-बच्चे के पोषण और स्वास्थ्य के लिये प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना शुरू करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि बलात्कारियों को फाँसी की सजा दिलाने के लिये शीघ्र ही विधानसभा में सख्त कानून बनाने का प्रस्ताव लाया जायेगा। छेड़छाड़ के अपराध के लिए 10 वर्ष के सश्रम कारावास का प्रावधान करवाया जायेगा। स्कूल और सिटी बसों में छेड़छाड़ की घटना को रोकने के लिये सी.सी.टी.वी. कैमरे लगी बसों को ही परमिट दिए जायेगा। उन्होंने कहा कि बलात्कार के प्रकरणों में बिना शासकीय अधिवक्ता को सुने जमानत की याचिका पर विचार नहीं करने का प्रावधान भी कर रहे हैं। पैतृक सम्पत्ति में हिस्सा देने के कानून का प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जायेगा। महिला स्व-सहायता समूहों को माइक्रो फाइनेंस कार्य के लिए सरकार से मैचिंग ग्रांट की सीमा एक करोड़ से घटाकर 50 लाख रूपए की जायेगी। स्व-सहायता समूहों के उत्पादों के लिये जिले की माँग अनुसार विकासखंडवार बिक्री केन्द्र संचालित होंगे। समूह को 3 लाख रूपए तक की सीमा तक 3 प्रतिशत अतिरिक्त अनुदान मिलेगा। एक लाख रूपए की ऋण सीमा तक स्टाम्प ड्यूटी में छूट होगी। ग्राम पंचायत कार्यालय में महिला स्व-सहायता समूह डेस्क गठित होंगे। स्कूली बच्चों के गणवेश समूह से बनवाये जायेंगे। एस.एच.जी. के लिये पोर्टल भी बनेगा।
बेटियों को समृद्ध बनायें -
मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने बेटियों के स्वास्थ्य शिक्षा, आर्थिक सशक्तिकरण, स्वावलम्बन और कौशल विकास की जिम्मेदारी ली है। प्रदेश में 26 लाख लाड़ली लक्ष्मियाँ है। जब वे 21 वर्ष की होगी तब उनके बैंक खातों में 31 करोड़ रुपये की राशि जमा होगी। आगामी 12 अक्टूबर को लाड़ली शिक्षा पर्व मना रहे हैं जिसमें छठवीं कक्षा में प्रवेश लेने वाली 65 हजार लाड़ली लक्ष्मियों को दो हजार रुपये की छात्रवृत्ति दी जायेगी। स्कूलों में छठवीं और आठवीं कक्षा में प्रवेश लेने वाली बेटियों के स्वास्थ्य की भी नि:शुल्क जाँच होगी।
बाल विवाह बेटियों के साथ अन्याय -
श्री चौहान ने बाल विवाह को बेटियों के साथ अन्याय बताते हुए लाडो अभियान के बारे में बताया जिसमें समाज के सहयोग से लगभग एक लाख बाल विवाह रोके गये हैं। बाल विवाह के विरोध के बनते वातावरण का उल्लेख करते हुए कहा कि बेटियाँ स्वयं भी प्रथा के विरोध में आगे आने लगी हैं। मंदसौर जिले के कचनारा में ब्याही बेटी पूजा ने न्यायालय की शरण लेकर विवाह को शून्य घोषित करवाया है। अनूपपुर जिले की ग्राम बिजुरी-मौहरी ने भी वर्ष 2014 में सत्रह वर्ष की आयु में विवाह तय किये जाने का विरोध करते हुए उसे एक वर्ष के लिये रुकवा दिया था। बालिकाओं और महिलाओं के प्रति हिंसा, सामाजिक कुरीतियों को रोकने के लिये शौर्या दल के साथ जुड़ने की बात भी कही। बताया कि मण्डला जिले की कुमारी काजल बैगा की इच्छा अनुसार शादी करवाने, छतरपुर जिले के खजुराहो में मानव तस्करी को रुकवाने जैसे कार्यों में शौर्या दल ने सराहनीय पहल की है।
बेटियों की शिक्षा सरकार की जिम्मेदारी -
मुख्यमंत्री ने शिक्षा की महत्ता बताते हुए नि:शुल्क स्कूली शिक्षा, पौष्टिक मध्यान्ह भोजन की व्यवस्था के साथ कॉलेज की शिक्षा के लिये प्रतिभा किरण योजना, गाँव की बेटी योजना और मुख्यमंत्री मेधावी योजना की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि रीवा के गोरगाँव की कुमारी जस्मिन पटेल, बैतूल के ओहरगाँव की बेटी कुमारी किरण की डॉक्टरी और इंजीनियरिंग शिक्षा का पूरा खर्च राज्य सरकार उठा रही है। इन बेटियों के साथ ही अनेक कन्याओं की शिक्षा की जिम्मेदारी अब राज्य सरकार ने ले ली है। उन्होंने खूब मन लगा कर पढ़ने के लिये कहा।
महिलाएँ स्वालम्बी बनें-
मुख्यमंत्री ने महिलाओं को स्वालम्बी होने के लिये प्रेरित किया। मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना की सफल हितग्राही सुचिता भार्गव का वस्त्र ब्रांड रंगदेसी, शिखा नागर की आईटी कंपनी, नेहा मित्तल की हाईटेक लांड्री की लोकप्रियता का उल्लेख किया। महिला स्व-सहायता समूहों की सामाजिक-आर्थिक और राजनैतिक सशक्तिकरण में भूमिका का उल्लेख करते हुए कहा कि 22 लाख परिवारों को संगठित कर बने 2 लाख स्व-सहायता समूहों को लगभग 1800 करोड़ का ऋण दिलाया गया है। उनकी आजीविका गतिविधियाँ गर्व का विषय हैं। गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वालों में से डेढ़ लाख सदस्यों ने लखपति क्लब का निर्माण कर लिया है। श्योपुर जिले के क