Untitled Document


register
REGISTER HERE FOR EXCLUSIVE OFFERS & INVITATIONS TO OUR READERS

REGISTER YOURSELF
Register to participate in monthly draw of lucky Readers & Win exciting prizes.

EXCLUSIVE SUBSCRIPTION OFFER
Free 12 Print MAGAZINES with ONLINE+PRINT SUBSCRIPTION Rs. 300/- PerYear FREE EXCLUSIVE DESK ORGANISER for the first 1000 SUBSCRIBERS.

   >> सम्पादकीय
   >> राजधानी
   >> कवर स्टोरी
   >> विश्व डाइजेस्ट
   >> बेटी बचाओ
   >> आपके पत्र
   >> अन्ना का पन्ना
   >> इन्वेस्टीगेशन
   >> मप्र.डाइजेस्ट
   >> मध्यप्रदेश पर्यटन
   >> भारत डाइजेस्ट
   >> सूचना का अधिकार
   >> सिटी गाइड
   >> अपराध मिरर
   >> सिटी स्केन
   >> जिलो से
   >> हमारे मेहमान
   >> साक्षात्कार
   >> केम्पस मिरर
   >> फिल्म व टीवी
   >> खाना - पीना
   >> शापिंग गाइड
   >> वास्तुकला
   >> बुक-क्लब
   >> महिला मिरर
   >> भविष्यवाणी
   >> क्लब संस्थायें
   >> स्वास्थ्य दर्पण
   >> संस्कृति कला
   >> सैनिक समाचार
   >> आर्ट-पावर
   >> मीडिया
   >> समीक्षा
   >> कैलेन्डर
   >> आपके सवाल
   >> आपकी राय
   >> पब्लिक नोटिस
   >> न्यूज मेकर
   >> टेक्नोलॉजी
   >> टेंडर्स निविदा
   >> बच्चों की दुनिया
   >> स्कूल मिरर
   >> सामाजिक चेतना
   >> नियोक्ता के लिए
   >> पर्यावरण
   >> कृषक दर्पण
   >> यात्रा
   >> विधानसभा
   >> लीगल डाइजेस्ट
   >> कोलार
   >> भेल
   >> बैरागढ़
   >> आपकी शिकायत
   >> जनसंपर्क
   >> ऑटोमोबाइल मिरर
   >> प्रॉपर्टी मिरर
   >> सेलेब्रिटी सर्कल
   >> अचीवर्स
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> जीवन दर्शन
   >> कन्जूमर फोरम
   >> पब्लिक ओपिनियन
   >> ग्रामीण भारत
   >> पंचांग
   >> रेल डाइजेस्ट
 
ग्रामीण भारत


छह फरवरी को भोपाल में त्रिस्तरीय पंचायतीराज की महापंचायत - अभय मिश्रा
महापंचायत में होगा मुख्यमंत्री का अब तक सबसे बडा सम्मान
अभय मिश्रा और डी पी धाकढ की मुख्यमंत्री से अहम मुलाकात
मुख्यमंत्री ने कहा छह फरवरी को करेगे के घोषणा

18 January 2016
पिछले छह माह से अपने अधिकारो के लिए आंदोलनरत त्रिस्तरीय पंचायतीराज के जनप्रतिनिधियों के लिए बडी खबर है। आज त्रिस्तरीय पंचायतीराज संगठन के अध्यक्ष अभय मिश्रा और प्रदेष संयोजक डी पी धाकढ की मुख्यमंत्री षिवराज सिंह चैहान के निवास पर हुई अहम मुलाकात के बाद अभय मिश्रा खुषी जताते हुए कहा कि मुख्यमंत्री षिवराज सिंह चैहान ने हमारी लगभग सभी न्यायोचित मांगे मान ली है। जिसके चलते पंचायजीराज संगठन आगामी छह फरवरी को राजधानी भोपाल में महापंचायत आयोजित करेगा जिसमें मुख्यमंत्री षिवराज सिंह चैहान त्रिस्तरीय पंचायतीराज के प्रतिनिधियों को अधिकार दिए जाने की घोषणा करेगे।
मुख्यमंत्री षिवराज सिंह चोहान के साथ मुलाकात करने के बाद अभय मिश्रा ने प्रेस को जारी विज्ञप्ती में कहा कि त्रिस्तरीय पंचायतीराज संगठन अपने अधिकारो के लिए पिछले छह माह से अनुनय विनय से शुरू होकर आंदोलन की राह तक पहुॅच गया एंव विभिन्न उतार चढावो से होते हुए चार जनवरी को उनके समक्ष आंदोलन समाप्ती की घोषणा कर निर्वाचित जनप्रतिनिधियों के प्रति न्याय की अपेक्षा के साथ पंचायतीराज के अधिकारो के बागडोर मुख्यमंत्री के हाथों सौप दी थी । बकौल अभय मिश्रा तब मुख्यमंत्री ने कहा आंदोलन से नही दिल से दूगा, अब पंचायतीराज के जनप्रतिनिधियो की लडाई मेरी हैं जितना मांगा हैं उससे ज्यादा दूगा। लेकिन हमारी रणनीति में थोडी से चूक यह रही कि हम अपनी बात मुख्यमंत्री षिवराज सिंह चैहान के समक्ष प्रत्यक्ष तौर पर मिलकर रख नही सकै, शायद हमें इसलिए अपने अधिकारो को पाने के लिए लंबा सर्घष करना पडा।
अभय मिश्रा ने कहा कि जनवरी के बाद आज हम मुख्यमंत्री षिवराज सिंह चैहान से उनके निवास पर मिले और मुख्यमंत्री ने जो कहा था उसे चरितार्थ कर दिखाया। बहुत बडे हद्वय का परिचय देकर पंचायतीराज के जनप्रतिनिधियों का दिल जीत लिया।
मिश्रा ने कहा कि शासन के द्वारा दिये जा रहे अधिकारो से हम उपकृत और अभिभूत हैं और त्रिस्तरीय पंचायतीराज संगठन ने निणर्य लिया हैं कि छह फरवरी को भोपाल में पंचायतीराज की महापंचायत में मुख्यमंत्री का अब तक का सबसे बडा सम्मान करेगा। जिसके लिए मुख्यमंत्री षिवराज सिंह चैहान ने अपनी स्वीकृति प्रदान कर दी हैं। अभय मिश्रा और डी पी धाकढ ने सभी निर्वाचित प्रतिनिधियो से अपील की हैं कि मुख्यमंत्री जी ने हमारा जो मान रखा हैं उससे कही बडा उनका सम्मान करने के लिए स भी जनप्रतिनिधियों को छह फरवरी को भोपाल में एकत्रित होना होगा।

त्रिस्तरीय पंचायतीराज संगठन की मेहनत रंग लायेगीः अभय मिश्रा
सरकार की ओर से पंचायतीराज को अधिकार दिए जाने के संकेत

17 December 2015
भोपाल: त्रिस्तरीय पंचायतीराज संगठन के अध्यक्ष अभय मिश्रा ने कहा कि मीडीया और सरकारी सूत्रों के माध्यम से ज्ञात हुआ हैं कि प्रदेश सरकार जल्द ही पंचायतीराज के जनप्रतिनिधियों को 1994 की तर्ज पर पूरे अधिकार देने वाली हैं, यह त्रिस्तरीय पंचायतीराज संगठन के आंदोलन की बडी जीत है। अभय मिश्रा ने प्रदेष सरकार के इस निर्णय का स्वागत करते हुए कहा कि पंचायतीराज संगठन ने अपनेे अधिकारों की मांग को लेकर 2 दिसम्बर को भोपाल में आयोजित कोर कमेटी के बैठक में निणर्य लेते हुए प्रदेष सरकार को मांगे माने जाने के लिए सात दिवस का समय दिया था। सात दिवस में मांगे ना माने जाने पर मैहर चुनाव में बीजेपी को हराने की बात कही थी।
जिसके बाद मीडीया के माध्यम से ज्ञात हुआ कि प्रदेश सरकार पंचायतीराज के प्रतिनिधियों की सभी मांगे मानने के लिए तैयार हो गयी हैं ओर मुख्य सचिव को इसकी तैयारी करने के निर्देष मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चोहान ने दिए हैं।
अभय मिश्रा ने कहा कि मीडीया व सरकारी सूत्रो से ज्ञात हुआ कि विधानसभा सत्र के समापन के बाद प्रदेश सरकार के मुखिया शिवराज सिंह चोहान पंचायतीराज के जनप्रतिनिधियों को अधिकार दिए जाने की घोषणा कर सकते है।
अभय मिश्रा ने कहा कि इस खबर के बाद हमने विधानसभा सत्र की समाप्ती तक आंदोलन को विराम दे दिया है। विधानसभा सत्र के बाद आगामी रणनीति तय की जाएगी।
अभय मिश्रा ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चोहान पंचायत प्रतिनिधियों के मांग के अनुरूप 1994 के तर्ज पर समूचे अधिकार उन्हे देते हैं तो यह पंचायतीराज संगठन की बडी जीत होगी। मिश्रा ने कहा कि पिछले पांच माह से पंचायतीराज संगठन के बैनरतले प्रदेश भर के पंचायत प्रतिनिधि अपने अधिकारो की मांग के लिए आंदोलनरत थे, पंचायतीराज के किर्यान्वन और अधिकारीराज के खिलाफ पंचायतीराज संगठन की इस आंदोलन की मांगो को शायद पंचायतीराज के जनप्रतिनिधी ठीक ढंग से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चोहान के सामने नही पहुच पाये। जिसके चलते पंचायतीराज के अधिकारो के लिए जनप्रतिनिधियों को इतना लंबा सर्घष करना पडा।
अभय मिश्रा ने कहा कि यह त्रिस्तरीय पंचायतीराज संगठन की बडी जीत होगी।

मध्यप्रदेश की विदिशा एवं हरदा जिला पंचायत समेत 16 पंचायत पुरस्कृत
भोपाल। राष्ट्रीय पंचायत राज दिवस पर आज प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की सदारत में नई दिल्ली में गरिमापूर्ण समारोह में पंचायत सशक्तिकरण की दिशा में मध्यप्रदेश की विदिशा एवं हरदा जिला पंचायत समेत 16 पंचायत को पुरस्कृत किया गया। समारोह में केन्द्रीय पंचायत राज मंत्री श्री वीरेन्द्र सिंह और राज्य मंत्री श्री निहाल चन्द भी उपस्थित थे।
प्रधानमंत्री श्री मोदी ने उपस्थित पंचायत प्रतिनिधियों से कहा कि पंचायत सदस्यों को गाँव के बारे में गौरवान्वित महसूस करना चाहिये। उन्होंने वित्तीय प्रावधानों की तुलना में विकास के प्रति दृढ़-निश्चय को महत्वपूर्ण करार देते हुए गाँव में बच्चों की शिक्षा, उनके टीकाकरण आदि पर विशेष ध्यान देने की बात कही। उन्होंने गाँव का जन्म-दिन मनाने जैसा सुझाव भी दिया।
समारोह में मध्यप्रदेश की 2 जिला पंचायत हरदा एवं विदिशा को 30-30 लाख, विदिशा तथा इछावर जनपद पंचायत को 20-20 लाख तथा 12 ग्राम पंचायत हिनोतिया, थर्रह, पामेद, हरदा खुर्द, गोमगाँव, गुर मेला, कुकरावार, बागवाड़ा, हिलगन, सोनपुर, गठहौली तथा खैरिया ग्राम पंचायत को 8-8 लाख की सम्मान-निधि से पुरस्कृत किया गया।
पंचायत सशक्तिकरण की दिशा में पुरस्कृत ग्राम पंचायतों ने विकेन्द्रीकृत एवं सहभागितापूर्ण स्थानीय स्व-शासन के क्रियान्वयन एवं सामाजिक न्याय, प्रभावी सेवा सुपुर्दगी और समावेशी विकास तथा जवाबदेही सुनिश्चित करने की दिशा में कामयाबी हासिल की है। पिछले वित्त के लिये पंचायत राज मंत्रालय ने स्वतंत्र एजेंसी टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान से करवाये गये मूल्यांकन अध्ययन के आधार पर श्रेष्ठ पंचायत राज संस्थाओं का चयन कर उन्हें पुरस्कृत किया है।


गाँवो के विकास की समन्वित योजना बनेगी
21 August 2015
भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने केन्द्रीय पंचायत सचिव श्री विजय आनंद से २५ अप्रैल को मुलाकात के दौरान कहा कि प्रदेश में गांवों के विकास की समन्वित योजना बनायीं जायेगी। प्रदेश में १० हजार से अधिक जनसंख्या वाली ३२०० ग्राम पंचायतों के आदर्श रूप से विकसित किया जायेगा । प्रदेश में गांवों में विकास के लिये मुख्यमंत्री ग्राम सड़क और पंच परमेश्वर योजना के जरिये बेहतर काम हुआ है। गाँवों में 24 घंटे बिजली दी जा रही है। गाँवों में नलों से जल प्रदाय की योजना बनायी गई है। सभी आँगनबाड़ी और ग्राम पंचायतों के भवन बनाये जा रहे हैं। केन्द्रीय सचिव श्री आनंद ने कहा कि गाँवों के समूह बनाकर विकास तथा आदर्श ग्राम विकसित करने की योजना बनायीं जाये।
मुलाकात के दौरान मुख्य सचिव श्री अंटोनी डिसा , अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्रीमती अरुणा शर्मा और मुख्यमंत्री के सचिव सचिव श्री हरिरंजन राव उपस्थित थे।


प्रदेश का हर गाँव बनेगा स्मार्ट विलेज
21 August 2015
प्रदेश के हर गाँव को अगले पाँच साल में स्मार्ट विलेज बनाया जायेगा। स्मार्ट विलेज सुनियोजित ढंग से विकसित ग्राम होंगे। इसके लिये अगले एक माह में एकीकृत ग्राम विकास योजना बनाई जायेगी। प्रदेश में स्वर्गीय पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी के जन्म-दिवस आगामी 25 सितम्बर से गरीब कल्याण वर्ष मनाया जायेगा। जिसमें गरीबों के लिये आजीविका, आवास सहित विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से गरीबों का कल्याण किया जायेगा। आगामी जुलाई माह से प्रदेश में पाँचवीं तक के सभी शासकीय स्कूलों में मध्यान्ह-भोजन कार्यक्रम में सप्ताह में तीन बार दूध भी दिया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की समीक्षा बैठक में इस संबंध में निर्देश दिये। बैठक में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव और मुख्य सचिव श्री अन्टोनी डिसा भी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्रामीण विकास से संबंधित विभिन्न कार्यक्रमों की विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने निर्देश दिये कि ग्रामों में जल स्त्रोतों की सफाई का अभियान चलाया जाये। ग्रामीण विकास की योजनाओं में निर्मित परिसम्पत्तियों का उपयोग सुनिश्चित किया जाये। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क और मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना की सड़कों के निर्माण में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखें। प्रदेश में प्लास्टिक वेस्टेज के रिसाइकल्स से निर्मित सड़कों की गुणवत्ता को देखते हुए इसे बढ़ावा दिया जाये। इससे पर्यावरण संरक्षण में मदद मिलेगी। जिन हितग्राहियों को आवास योजना में आवास स्वीकृत हुए हैं उन्हें मुख्यमंत्री की ओर से पत्र भेजा जाये। सहरिया और बैगा जैसी जनजातियों के हितग्राहियों के लिये आवास निर्माण का अभियान चलाया जाये। वर्ष 2018 तक प्रदेश के प्रत्येक घर में शौचालय बनवाये जायें। एकीकृत जल ग्रहण क्षेत्र प्रबंध कार्यक्रम का इम्पेक्ट असेसमेंट करवाया जाये।
मुख्यमंत्री ने मनरेगा की प्रगति की समीक्षा करते हुए निर्देश दिये कि योजना में मजदूरी का भुगतान समय से किया जाये। पंच परमेश्वर योजना की समीक्षा के दौरान उन्होंने कहा कि प्रत्येक ग्राम के समन्वित विकास की योजना बनाई जाये। मुख्यमंत्री ग्राम हाट बाजार योजना का प्रभावी क्रियान्वयन किया जाये। ग्रामों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता पैदा करें।
बैठक में बताया गया कि मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना में 12 हजार 471 किलोमीटर लंबाई की 5,836 सड़क बनाई गई हैं। इन पर 2,169 करोड़ रुपये व्यय हुए हैं। मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना में निर्मित ग्रेवल सड़कों के डामरीकृत सड़कों में उन्नयन की परियोजना विश्व बेंक को भेजी गई हैं। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में 5,239 किलोमीटर लंबी सड़कें बनाई गई हैं। सड़कों की गुणवत्ता की जाँच के लिये प्रत्येक जिले में लेब स्थापित की गई है। इंदिरा आवास योजना में 95 हजार 435 आवास तथा मुख्यमंत्री अंत्योदय आवास योजना में 6,037 आवास निर्माणाधीन है। प्रदेश में विशेष गाम सभाएँ कर आवासहीनों की सूची बनाई जायेगी। मुख्यमंत्री ग्रामीण आवास मिशन में 4 लाख 92 हजार हितग्राहियों को आवासीय ऋण उपलब्ध करवाया गया है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत प्रदेश में 5 लाख 21 हजार घर में शौचालय बनवाये गये हैं। एकीकृत जल-ग्रहण क्षेत्र प्रबंधन कार्यक्रम के तहत प्रदेश में 65 हजार 375 हेक्टेयर क्षेत्र में अतिरिक्त सिंचाई क्षमता निर्मित की गई है। मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम से 71 लाख 86 हजार बच्चों को लाभान्वित किया गया है। विदिशा जिले में मध्यान्ह भोजन के तहत स्कूलों में दूध के प्रदाय से कुपोषण रोकने में मदद मिली है। मनरेगा में प्रदेश में 11 करोड़ 71 लाख मानव दिवस का रोजगार सृजित किया गया है। पंच परमेश्वर योजना में ग्राम पंचायतों को बीते चार वर्ष में 5,108 करोड़ रूपये विकास कार्यों के लिये उपलब्ध करवाये गये हैं। इस योजना में ग्रामों में सीमेंट- कांक्रीट रोड तथा नालियों के निर्माण करवाये गये। राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन में प्रदेश में एक लाख 365 स्व-सहायता समूह बनाये गये। बैठक में अपर मुख्य सचिव श्रीमती अरूणा शर्मा सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।


 
Copyright © 2014, BrainPower Media India Pvt. Ltd.
All Rights Reserved
DISCLAIMER | TERMS OF USE