Untitled Document


register
REGISTER HERE FOR EXCLUSIVE OFFERS & INVITATIONS TO OUR READERS

REGISTER YOURSELF
Register to participate in monthly draw of lucky Readers & Win exciting prizes.

EXCLUSIVE SUBSCRIPTION OFFER
Free 12 Print MAGAZINES with ONLINE+PRINT SUBSCRIPTION Rs. 300/- PerYear FREE EXCLUSIVE DESK ORGANISER for the first 1000 SUBSCRIBERS.

   >> सम्पादकीय
   >> राजधानी
   >> कवर स्टोरी
   >> विश्व डाइजेस्ट
   >> बेटी बचाओ
   >> आपके पत्र
   >> अन्ना का पन्ना
   >> इन्वेस्टीगेशन
   >> मप्र.डाइजेस्ट
   >> मध्यप्रदेश पर्यटन
   >> भारत डाइजेस्ट
   >> सूचना का अधिकार
   >> सिटी गाइड
   >> अपराध मिरर
   >> सिटी स्केन
   >> जिलो से
   >> हमारे मेहमान
   >> साक्षात्कार
   >> केम्पस मिरर
   >> फिल्म व टीवी
   >> खाना - पीना
   >> शापिंग गाइड
   >> वास्तुकला
   >> बुक-क्लब
   >> महिला मिरर
   >> भविष्यवाणी
   >> क्लब संस्थायें
   >> स्वास्थ्य दर्पण
   >> संस्कृति कला
   >> सैनिक समाचार
   >> आर्ट-पावर
   >> मीडिया
   >> समीक्षा
   >> कैलेन्डर
   >> आपके सवाल
   >> आपकी राय
   >> पब्लिक नोटिस
   >> न्यूज मेकर
   >> टेक्नोलॉजी
   >> टेंडर्स निविदा
   >> बच्चों की दुनिया
   >> स्कूल मिरर
   >> सामाजिक चेतना
   >> नियोक्ता के लिए
   >> पर्यावरण
   >> कृषक दर्पण
   >> यात्रा
   >> विधानसभा
   >> लीगल डाइजेस्ट
   >> कोलार
   >> भेल
   >> बैरागढ़
   >> आपकी शिकायत
   >> जनसंपर्क
   >> ऑटोमोबाइल मिरर
   >> प्रॉपर्टी मिरर
   >> सेलेब्रिटी सर्कल
   >> अचीवर्स
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> जीवन दर्शन
   >> कन्जूमर फोरम
   >> पब्लिक ओपिनियन
   >> ग्रामीण भारत
   >> पंचांग
   >> रेल डाइजेस्ट
   Untitled Document

मोदी सरकार ने युवाओं को बनाया जॉब क्रिएटर
Our Correspondent :21 Aug 2017
भोपाल. रविवार को लाल परेड ग्राउंड पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मेधावी विद्यार्थी सहायता योजना के तहत 15 बच्चों की फीस के प्रमाण-पत्र बांटे। शाह ने कहा- प्रधानमंत्री मोदी के डिजिटल इंडिया, मुद्रा बैंक, स्टार्टअप, स्टैंडअप और स्किल इंडिया जैसे कार्यक्रम ने युवाओं को जॉब सीकर से जॉब क्रिएटर बनाया है। केंद्र सरकार ने पिछले तीन साल में विकास की गति बदलने का कार्य किया है। पूर्व सरकार के कार्यकाल में जो अर्थव्यवस्था लकवाग्रस्त थी, उसे आज दुनिया की सबसे तेज प्रगति करने वाली अर्थव्यवस्था का सम्मान मिल रहा है। सीएम ने कहा कि विद्यार्थियों की मदद के लिए विद्यार्थी कल्याण कोष बनाया जाएगा। इस कोष में योजना का लाभ लेने वाले जो विद्यार्थी रोजगार से लग जाते हैं, वे मदद करेंगे। जिनका मेडिकल कॉलेज में प्रवेश हो जाता है वे पढ़ाई पूरी करने के बाद तीन वर्ष तक ग्रामीण क्षेत्रों में सेवाएं देंगे। वर्ष-2015 और वर्ष-2016 के विद्यार्थियों को भी योजना का लाभ मिलेगा
इन्हें योजना से मिली आगे पढ़ाई में मदद..1. एडमिशन लिया, अब चिंता नहीं पापा राधेश्याम बागरे की छोटी सी दुकान है। मुख्यमंत्री ने यह योजना लागू कर हमारी और हमारे पापा की चिंता दूर कर दी है। मैंने स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्किटेक्चर में एडमिशन ले लिया है।
आईआईटी में एडमिशन मिला.अब मेरी फीस भर जाएगी। इसके चलते पापा के ऊपर कोई आर्थिक बोझ नहीं आएगा। मेरा एडमिशन आईआईटी इंदौर में हो गया है। मुझे शुरू में लग रहा था कि पापा कैसे फीस भर पाएंगे। अब कोई समस्या नहीं हैं। केशव राठौर 150 मेडिकल कॉलेज में 150 से अधिक विद्यार्थियों ने मेडिकल कालेजों में प्रवेश लिया है। इंजीनियरिंग कालेजों के 762 विद्यार्थी, पोलिटेक्निक के 83 विद्यार्थी एवं उच्च शिक्षा के लिए 20 हजार से अधिक विद्यार्थी लाभान्वित हो चुके हैं।
इन्हें मिला प्रमाण-पत्र..एमबीबीएस के लिए चयनित रीवा की जस्मिन पटेल, इन्दौर के स्वप्निल कुन्हारे, इंजीनियरिंग में इन्दौर की आस्था डोंगरे, बैतूल की किरण जपाटे, आईआईएम इंदौर में बुरहानपुर की मानसी संजय
कांग्रेस नेताओं को घर में घेरो, चुनाव जीतो..अमित शाह ने कहा कि साल 2018 में विधानसभा की 200 सीटें जीतने का तो प्रदेश इकाई ने तय कर लिया है, लेकिन यह बातों से नहीं हो जाएगा। अभी तक 200 सीटें जीतने के लिए क्या रणनीति बनाई। शाह ने यह बात चुनाव प्रबंधन समिति की बैठक में कही। उन्होंने कहा कि 200 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा गया है वह तो ठीक है, फोकस कांग्रेस की 56 सीटों पर करो। कांग्रेस नेताओं को उनके घरों में घेरो, ताकि वे बाहर न जा सकें। स्थानीय मुद्दों में उलझने के बजाए कांग्रेस के बड़े नेताओं को टार्गेट करें। कांग्रेस के कब्जे में छिंदवाड़ा, गुना और झाबुआ लोकसभा सीट है, इन सीटों को भी 2019 में जीतने के लिए रणनीति बनाओ। इसके पहले इस संसदीय सीटों की विधानसभा सीटों पर 2018 में कमल खिलना चाहिए। सभाओं और जनसंपर्क का दौर जिला स्तर पर शुरू कर दें। प्रदेश स्तर की तैयारियों का इंतजार न करें। चुनाव जीतने की रणनीति बनाने के इस काम में पूर्व सांसदों और विधायकों की भी मदद लें।
जब शाह के सामने आए संजर..प्रवक्ताओं और मीडिया प्रभारियों की बैठक में परिचय के दौरान सांसद आलोक संजर ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष को परिचय दिया। संजर ने बताया कि मैं प्रवक्ता और सांसद हूं। शाह ने पूछा कहां से सांसद हैं, संजर ने कहा भोपाल से। इसके बाद शाह ने संजर को बैठने को कहा। आगे संगठन महामंत्री रामलाल ने प्रवक्ताओं से पूछा कि प्रदेश का जनसंपर्क मंत्री कौन है, तो प्रवक्ताओं ने कहा कि नरोत्तम मिश्रा। शाह ने मप्र के आईटी सेल को त्रिपुरा जैसे छोटे राज्य के सेल से भी कमजोर बताया।
योजनाओं का प्रचार ज्यादा, असलियत दूसरी ही है..अमित शाह ने रविवार को प्रदेश कार्यालय में पूर्ण कालिकों से चर्चा की। समयदानी कार्यकर्ताओं ने अपनी बात रखते हुए कहा कि जमीनी स्तर पर अभी सत्ता और संगठन को बहुत काम करने की जरूरत हैं। हकीकत यह है कि सरकार की प्रमुख योजनाओं का क्रियान्वयन बहुत धीमा है। कार्यकर्ताओं ने शाह को अपनी समस्याओं से भी अवगत कराया। शाह ने कहा कि विधायक की जिम्मेदारी होगी कि वे अपने क्षेत्र के कार्यकर्ता को बाइक उपलब्ध कराएंगे। इसके अलावा होने वाले खर्च को संगठन वहन करेगा। शाह ने निर्देश दिए कि समयदानी कार्यकर्ता सीधे उन्हें रिपोर्ट भेजेंगे। शाह ने कहा कि आप लोगों के पास सत्ता और संगठन का अच्छा फीडबैक है। क्योंकि आप अंतिम पंक्ति के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचे हैं। इसलिए सरकारी योजनाएं अंतिम पंक्ति तक पहुंच रही हैं या नहीं खुलकर बताएं। जिसके बाद ग्वालियर जिले के विधानसभा क्षेत्रों में काम कर रहे एक कार्यकर्ता ने बताया कि योजनाओं का जिस तरह से प्रचार किया जाता है, वैसे उनका क्रियान्वयन नहीं हो पाता है। भोपाल में युवाओं की बाइक रैली-शाह ने कहा कि एक जनवरी 2018 को भोपाल में तीन लाख युवाओं की बाइक रैली निकाली जाए। इस रैली में वे खुद भी आने की कोशिश करेंगे ताकि युवाओं का उत्साहवर्धन हो सके।


शिकायतें आ रही हैं, अभी वक्त है काम सुधार लें: बीजेपी नेताओं से बोले शाह
Our Correspondent :19 Aug 2017
भोपाल.मप्र दौरे के दूसरे दिन शनिवार को शाह ने सुबह 9.30 बजे प्रदेश मोर्चा अध्यक्ष, प्रकोष्ठ के संयोजक एवं कोर ग्रुप की बैठक ली। इस बैठक में शाह का सख्त अंदाज देखने को मिला। मोर्चा और प्रकोष्ठों के अध्यक्षों से शाह ने कहा, "पार्टी में कई ऐसे भी लोग हैं, जो ठीक से काम नहीं कर रहे हैं। मेरे पास कई लोगों की शिकायतें आ रही हैं। उन लोगों से मेरा अनुरोध है कि अपना काम सुधार लें अब भी वक्त है।' बता दें कि शाह के मध्यप्रदेश के तीन दिन के दौरे पर हैं।
मेरे आने की खबर सुनकर शुरू हुआ काम- शाह...- शाह ने कहा, "मेरे आने की खबर सुनने के बाद आप लोगों ने काम शुरू किया। मुझे जानकारी मिली है कि मेरे यहां पहुंच जाने के बाद आप लोगों ने आनन-फानन कई खाली पदों को भरा।" - शाह ने शुक्रवार को शिवराज कैबिनेट के सदस्यों की मीटिंग ली। उन्होंने कहा, "मध्यप्रदेश में ब्यूरोक्रेसी हावी है। मैंने ये बात 172 लोगों से मिले फीडबैक के आधार पर कही। यदि सीएम चाहेंगे तो मैं उनके नाम बता दूंगा।" - उन्होंने यह भी कहा कि मोदी सरकार में वे मंत्री नहीं बनेंगे, संगठन के लिए ही काम करेंगे। संगठन के लिए रोज 17 घंटे समय देना होता है। मंत्री पद से न्याय नहीं कर पाऊंगा।
मध्यप्रदेश में सिंधिया और शाह नहीं जीतने चाहिए.- शाह ने शिवराज कैबिनेट के सदस्यों की बैठक में शुक्रवार को कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में मध्य प्रदेश सभी 29 सीटें जीतनी हैं। - शाह बोले, "कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य और कमलनाथ को किसी भी कीमत पर जीतने नहीं देना है। कांग्रेस के ये दोनों ही नेता हमारे विधायकों से तालमेल कर जीत जाते हैं।'
मैं यहां भाषण सुनने नहीं आया- शाह..- शाह शुक्रवार को भोपाल पहुंचे। पहले दिन शाह को बीजेपी ऑफिस पहुंचने में करीब डेढ़ घंटे की देरी हो गई। - केंद्रीय पदाधिकारियों, प्रदेश कोर ग्रुप के सदस्य, प्रदेश पदाधिकारी, सांसद, विधायक, जिला अध्यक्ष, संभागीय मंत्री समेत जिला प्रभारी के साथ मीटिंग शुक्रवार 10:30 बजे तय थी। इसमें देरी हो गई। इस दौरान, प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान स्वागत स्पीच देने लगे। इस पर अमित शाह को थोड़ा असहज लगा, क्योंकि मीटिंग में पहले ही देरी हो गई थी। शाह ने उन्हें टोक दिया। - शाह ने नंदकुमार सिंह चौहान से कहा कि ज्यादा भूमिका मत बनाओ और बैठक शुरू करो। मैं यहां भाषण सुनने नहीं आया हूं।
मंत्री के घर खाया गुजराती खाना..- शुक्रवार को मीटिंग के बाद अमित शाह नरोत्तम मिश्रा के घर पहुंचे। यहां उन्होंने शहर के कुछ चुनिंदा पत्रकारों और मंत्रियों के साथ लंच किया। शाह की पसंद का ध्यान रखते मिश्रा ने अपने घर पर खास गुजराती खाना बनवाया था
गुरुवार को आना था शाह को, शुक्रवार को आए..- अमित शाह को गुरुवार रात 9:10 बजे नियमित फ्लाइट से दिल्ली से भोपाल आना था, लेकिन वे टाइम पर दिल्ली एयरपोर्ट नहीं पहुंच पाए थे। जबकि इसी से कैलाश विजयवर्गीय समेत अन्य नेता भोपाल पहुंच गए थे। इधर शाह के स्वागत के लिए पहुंचे मुख्यमंत्री समेत सभी मंत्रियों को दिल्ली से सूचना मिली कि चार्टर्ड प्लेन से शाह रात 11 बजे पहुंचेंगे। लेकिन तकनीकी खराबी के कारण प्लेन नहीं उड़ पाया। जब यह सूचना मुख्यमंत्री को रात 10:45 बजे मिली तो उन्होंने माइक से जानकारी दी कि शाह अब शुक्रवार सुबह 9 बजे आएंगे।
BJP का 2019 के लिए 360+ सीटों का टारगेट.. बीजेपी ने 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए अभी से टारगेट तय कर लिया है। अमित शाह ने 360+ सीटें लाने का लक्ष्य नेताओं को दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शाह ने बीजेपी हेडक्वार्टर्स में तीन घंटे तक 30 से ज्यादा नेताओं के साथ बैठक कर इस बारे में चर्चा की। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीजेपी प्रेसिडेंट ने केंद्रीय मंत्रियों और पार्टी नेताओं से उन सीटों पर खासतौर पर फोकस करने को कहा, जहां बीजेपी को पिछले चुनाव के दौरान हार मिली थी। बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने अकेले के दम पर मेजॉरिटी हासिल कर 282 सीटें जीती थीं। इस बीच, एक न्यूज एजेंसी की खबर में कहा गया है कि इसी महीने में कैबिनेट में फेरबदल हो सकता है।


तीन दिन भोपाल में रहेंगे अमित शाह, समीक्षा के साथ ही ये है उनका प्लान
Our Correspondent :17 Aug 2017
भोपाल। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह तीन दिवसीय (18 से 20 अगस्त) प्रवास पर गुरुवार को देर शाम भोपाल आएंगे। संगठनात्मक कामकाज की समीक्षा के तहत शाह शुक्रवार सुबह 10:30 बजे पहली बैठक लेंगे। -इसमें पार्टी के केंद्रीय पदाधिकारी, प्रदेश कोर ग्रुप के सदस्य, प्रदेश पदाधिकारी, प्रदेश प्रवक्ता, सांसद, विधायक समेत जिला प्रभारी मौजूद रहेंगे। बाद में 3:30 बजे सांसद, विधायक एवं कोर ग्रुप की बैठक और बाद में मंत्रिमंडल सदस्यों की बैठक भी लेंगे। -शाह शुक्रवार को जनसंपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा के यहां भोजन करने जाएंगे। भाजपा नेताओं के बीच इसकी वजह खोजी जा रही है। -पेड न्यूज मामले में सुर्खियों में रहे नरोत्तम भोज के माध्यम से यह संदेश देने में भी सफल हो गए हैं कि वे पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के कितने करीबी हैं। -शाह 19 अगस्त को मुख्यमंत्री निवास पर साधु-संतों के साथ भोजन करेंगे। -शाह पार्टी कार्य विस्तार योजना के तहत देशभर में 110 दिवसीय प्रवास पर हैं, इस कड़ी में मध्यप्रदेश 19वां राज्य है।


सायबर अवेयरनेस को लेकर 2 युवाओं की पहल, बताते हैं कैसे करें डिजिटल मीडिया का इस्तेमाल
Our Correspondent :14 Aug 2017
भोपाल.डिजिटल इंडिया के बढ़ते दायरे में सायबर सुरक्षा पर दो युवाओं की पहल गौरतलब है। पहली हैं मुंबई की उद्यमी आकांक्षा श्रीवास्तव। आकांक्षा सायबर स्टॉकिंग का खुलकर सामना करने के लिए महिलाओं और युवतियों को प्रेरित करती हैं। दूसरे है राजधानी के नेहरू नगर निवासी शोभित चतुर्वेदी। शोभित ने बच्चों और युवाओं को सायबर हमलों से बचाने का बीड़ा उठाया है
सायबर स्टाकिंग... शिकार हुईं लेकिन नहीं हारी हिम्मत.. सायबर स्टॉकिंग यानी किसी का ऑनलाइन पीछा करना। किसी व्यक्ति पर नजर रखना। उसकी मर्जी के बगैर ईमेल कर, एसएमएस कर परेशान करना। करीब दो साल पहले आकांक्षा के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ था। एआईजी सुदीप गोयनका के मुताबिक आकांक्षा की पसंद-नापसंद का ख्याल रखते हुए एक युवक ने अपनी प्रोफाइल बनाई थी। इससे वे प्रभावित हो गईं और दोनों में अच्छी दोस्ती हो गई। बाद में पता चला कि युवक ने फेक प्रोफाइल बनाई थी। आकांक्षा इसके खिलाफ खड़ी हुईं और आरोपी को सलाखों के पीछे पहुंचाया। देश के कई बड़े शहरों में उन्होंने ‘आकांक्षा अगेंस्ट हैरासमेंट’ (एएएच) की शुरुआत की है। हाल ही में भोपाल स्थित एक निजी कॉलेज में पहुंचकर उन्होंने सायबर सुरक्षा के बारे में छात्राओं को समझाया। डिजिटल मीडिया का इस्तेमाल कैसे करें, इस बारे में भी बताया। - सायबर दुर्व्यवहार की शर्मिंदगी पीड़ित की नहीं बल्कि दोषी की होती है। सामने आएं, खुलकर बोलें और दुर्व्यवहार करने वाले व्यक्ति को शर्मिंदगी वापस लौटाएं
मकसद...बच्चे अौर युवा सायबर सुरक्षा के प्रति जागरूक होें शोभित की पहचान एथिकल हैकर के रूप में ज्यादा है। उन्होंने सिसको सर्टिफाइड इंजीनियर (सीसीएनए), सर्टिफिकेट ऑफ एथिकल हैकिंग (सीईएच) और रेड हैट सर्टिफाइड इंजीनियर (आरएचसीई) किया है। वर्ष 2010 में उन्होंने सायबर सिक्योरिटी पर काम करना शुरू किया। मप्र पुलिस से वर्ष 2013 में जुड़े। पुलिस उन्हें खासकर तब याद करती है, जब मामला सायबर से जुड़ा हो। फिलहाल वे सायबर पुलिस के साथ काम कर रहे हैं। पुलिस के साथ मिलकर शोभित अब तक 22 स्कूल-कॉलेजों में सायबर अवेयरनेस प्रोग्राम कर चुके हैं। मकसद ये है कि ज्यादा से ज्यादा बच्चे और युवा सायबर एक्ट व सायबर सुरक्षा के प्रति जागरूक हो सकें। इसके लिए उन्होंने अब तक न पुलिस से कोई भुगतान लिया और न ही स्कूल-कॉलेज से। यह समय इंटरनेट का ही है। इसलिए सरकार को सायबर एजुकेशन पर भी ध्यान देना चाहिए। समय-समय पर इसके लिए प्रोग्राम चलाए जाने चाहिए।


चेहरे पर सील मामलाः सेंट्रल जेल पहुंचे बच्चे, कहा- महिला प्रहरी को मत करो सस्पेंड
Our Correspondent :10 Aug 2017
भोपाल। भोपाल केंद्रीय जेल में रक्षाबंधन के दिन बंदियों से मुलाकात करने आए बच्चों के चेहरे पर सील लगाने के मामले में एक नया मोड़ आ गया है। गुरुवार को परिजनों के साथ दोबारा जेल पहुंचे बच्चों ने जेल प्रबंधन से महिला प्रहरी को सस्पेंड न करने की रिक्वेस्ट की है। गौरतलब है कि जेल प्रबंधन ने इस मामले में दोषी पाए जाने के बाद महिला प्रहरी को सस्पेंड कर दिया था। -जानकारी के अनुसार, गुरुवार को पीड़ित परिवार को पड़ोसियों ने बताया था कि बच्चों के चेहरे पर सील लगाने के मामले में डीजी जेल संजय चौधरी ने एक महिला प्रहरी रोशनी राजपूत को सस्पेंड कर दिया है। खबर से दुखी परिजन और बच्चे गुरुवार को सेंट्रल जेल पहुंचे और उन्होंने अपनी तरफ जेल प्रबंधन को एक हलफनामा दिया है, जिसमें उन्होंने महिला प्रहरी रोशनी राजपूत को सस्पेंड न करने की रिक्वेस्ट की है। वहीं, बच्चों के परिजनों ने यह भी कहा है कि उन्हें चेहरे पर सील लगाने को लेकर कोई आपत्ति नहीं है। इसीलिए महिला प्रहरी को सस्पेंड न किया जाए। .
यह था मामला.. गौरतलब है कि रक्षाबंधन के दिन भोपाल जेल में दो बच्चे परिजनों के साथ जेल में बंद अपने पिता से मिलने पहुंचे थे। इस दौरान जेलकर्मियों द्वारा पहचान के लिए कैदियों के परिजनों के हाथ पर मुहर लगाई जा रही थी। लेकिन जैसे ही बच्चों की बारी आई, एक महिला प्रहरी ने उनके हाथ के बजाए चेहरे पर सील लगा दी थी।
इसलिए लगाई जाती है हाथ पर मोहर -तीज-त्योहार या अन्य दिनों में भी जेल में बंद कैदियों से मिलने जाने वाले परिजनों या परिचितों के हाथ पर पहचान के लिए जेल कर्मियों द्वारा मोहर लगा दी जाती है। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि कैदी भीड़ का फायदा उठाकर भाग न निकले। यह केवल सुरक्षा की दृष्टि से किया जाता है।


डिवाइस बताएगा कितना गंदा है पब्लिक टॉयलेट, डस्टबिन भरते ही बजेगा अलार्म
Our Correspondent :8 Aug 2017
रामयश केवट, भोपाल। शहर को साफ सुथरा रखने के लिए नगर निगम अब दो नई टेक्नालॉजी का उपयोग करने जा रहा है। पहला डिवाइस और दूसरा माइक्रोचिप से सफाई। स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में देश में नंबर वन पर आने के लिए नगर निगम ने तैयारी शुरू कर दी है। शहर के 185 पब्लिक और कम्युनिटी टॉयलेट को साफ-सुथरा रखने के लिए इन टायलेट में एक ऐसा डिवाइस लगाया जाएगा, जिसके माध्यम से लोग बटन दबाकर सीधे अपनी प्रतिक्रिया दे सकेंगे कि टॉयलेट साफ-सुथरा है या गंदा। गंदगी की सूचना मिलते ही निगम वहां सफाई करा देगा। वहीं, शहर में बाजारों और प्रमुख स्थानों में दो हजार स्मार्ट बिन (डस्टबिन) रखे जाएंगे, इनमें माइक्रोचिप लगी होगी, जो जीपीएस के माध्यम से कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से जुड़े होंगे। जैसे ही डस्ट बिन में कचरा भर जाएगा, अलार्म सिस्टम के माध्यम से सेंटर को सूचना मिल जाएगी। जहां से सबसे नजदीक कचरा वाहन को अलार्म मिलेगा। गाड़ी तत्काल पहुंचकर कचरा उठा लेगी। इसके टेंडर भी हो चुके हैं। निगम के अधिकारियों के अनुसार पहले चरण में दो हजार स्मार्ट बिन में यह चिप लगेगी बाद में मौजूदा डस्टबिन में चिप लगाई जाएगी। भोपाल सहित देश के अन्य शहरों में भी माइक्रोचिप की व्यवस्था अमल में लाई जा रही है। टायलेट में ऐसे काम करेगा डिवाइस नगर निग, बीएसएनएल के सहयोग से यह डिवाइस लगाएगा। एक डिवाइस पर 831 रुपए खर्च होंगे। इसकी रेटिंग का डाटा सीधे बीएसएनएल के माध्यम से नगर निगम के पास जाएगा। जो टॉयलेट गंदा है, उसकी सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। निगम अधिकारियों के अनुसार देश में भोपाल डिवाइस लगाने के मामले में पहला शहर होगा। पहला डिवाइस बोट क्लब स्थित पब्लिक टॉयलेट में लगाया गया है। एक महीने में बाकी टॉयलेट में यह व्यवस्था की जाएगी। ऐसे काम करेगा डिवाइस डिवाइस में लाल रंग के तीन बटन होंगे। पहले बटन में अच्छा, दूसरे में संतोषजनक और तीसरे में गंदा का विकल्प रहेगा। इस डिवाइस पर लोग जैसे ही बटन दबाएंगे उनकी प्रतिक्रिया दर्ज हो जाएगी। यह डेटा निगम के पास पहुंच जाएगा। इसलिए पड़ी जरूरत वर्तमान में कई हिस्से पर सार्वजनिक टॉयलेट की स्थिति खराब है। सिर्फ प्रमुख स्थानों पर ही सफाई का ध्यान रखा जाता है। जब निगम अफसरों का विशेष दौरा होता है, उस दौरान विशेष सफाई कराई जाती है। डिवाइस लगाने के बाद पता चल सकेगा कि शहर के कौन से टॉयलेट गंदे हैं। इस व्यवस्था से सफाई व्यवस्था को बेहतर किया जा सकेगा। अंडर ग्राउंड होगा वेस्ट बिन, रिमोट सिस्टम से उठेगा कचरा शहर के ऐसे बाजार जहां जगह की कमी है, वहां अंडर ग्राउंड स्टील के वेस्ट बिन स्थापित किए जाएंगे। यह बिन पूरी तरह से कवर्ड होगा, जिससे गंदगी नहीं होगी। कम जगह में इसे लगाया जा सकेगा। बिन भरने के बाद इसका कचरा रिमोट के माध्यम से कचरा गाड़ी में डाला जाएगा। अपनी प्रतिक्रिया दें तकनीक के उपयोग से शहर की सफाई व्यवस्था मजबूत होगी। टॉयलेट में डिवाइस, स्मार्ट बिन और वेस्ट बिन से 100 फीसदी तक सफाई बेहतर होगी। स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में इसके बेहतर परिणाम देखने को मिलेंगे


गरज-चमक के साथ MP में हो सकती बारिश, मौसम विभाग ने जारी की चेतावनी
Our Correspondent :4 Aug 2017
भोपाल। मध्य प्रदेश में राजधानी भोपाल सहित राज्य के कई अन्य हिस्सों में शुक्रवार सुबह से हल्के बादल छाए हुए हैं। मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटों के दौरान राज्य के पूर्वी हिस्से में बारिश की संभावना जताई है। -मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आगामी 24 घंटों में रीवा संभाग के अलावा टीकमगढ़, छतरपुर, पन्ना, कटनी, उमरिया, शहडोल, अलीराजपुर, बड़वानी, धार, बुरहानपुर आदि स्थानों पर गरज-चमक के साथ बारिश हो सकती है। -राज्य के मौसम में बदलाव का क्रम बना हुआ है। शुक्रवार को भोपाल का न्यूनतम तापमान 23.2 डिग्री, इंदौर का 22.4 डिग्री, ग्वालियर का 25.5 डिग्री और जबलपुर का 24.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। -इससे पहले गुरुवार को भोपाल का अधिकतम तापमान 29.4 डिग्री, इंदौर का 28.4 डिग्री, ग्वालियर का 34.8 डिग्री और जबलपुर का 29.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।


मध्य प्रदेश : न्याय की मांग को लेकर जज ही धरने पर बैठे, जानें क्या मामला
Our Correspondent :2 Aug 2017
भोपाल: लोगों को न्याय दिलाने वाला एक जज आज अब अपने लिए न्याय की मांग कर रहा है. मध्य प्रदेश के जबलपुर में हाईकोर्ट के बाहर अपने तबादले के विरोध में जज आरके श्रीवास्तव धरने पर बैठ गए हैं. जज हाईकोर्ट परिसर के अंदर धरने पर बैठना चाहते थे, लेकिन उन्हें ऐसा करने की अनुमति नहीं मिली.
मेरे साथ जानबूझकर ऐसा किया जा रहा है : जज. जज आरके श्रीवास्तव ने कहा- मेरे साथ अनियमितता हो रही है. मेरे साथ जानबूझ कर ये किया जा रहा है. हम भी जज हैं, हमारे साथ भी न्याय किया जाए
15 महीने में चौथी बार तबादला. दरअसल-जज आरके श्रीवास्तव 15 महीने में चौथी बार तबादला किए जाने का विरोध कर रहे हैं. इससे पहसे जज ने अपनी परेशानी मुख्य न्यायाधीश और रजिस्ट्रार जनरल को बताई थी, लेकिन हाईकोर्ट प्रशासन की ओर से कोई भी कदम नहीं उठाया गया. उसके बाद जज धरने पर बैठ गए. जज का कहना है कि हर तीन महीनों में तबादले से उनका परिवार काफ़ी परेशान है. जज की दलील है कि उनका धरना लगातार जारी रहेगा जबतक उनको न्याय नहीं मिल जाता है.


भानपुर से हलाली डैम के बीच पानी में मिले खतरनाक रसायन
Our Correspondent :31 July 2017
भोपाल. घरों में डिर्टजेंट और केमिकल के इस्तेमाल की बढ़ती मात्रा भविष्य में हमारी जल संरचनाओं के लिए गंभीर खतरा बनती जा रही है। यह हैवी मेटल मिट्‌टी और पानी में जमा होने के साथ-साथ फलदार पेड़-पौधों और इस पानी से होने वाली सिंचाई से पैदा हो रहीं फसलों के जरिए हमारे शरीर में भी प्रवेश कर रहे हैं। राजधानी में पर्याप्त मात्रा में सीवेज ट्रीटमेंट सिस्टम का अभाव और घरों में बढ़ती डिटर्जेंट और फिनाइल जैसे केमिकल की खपत न केवल हमारे तालाबों की दुश्मन बन गई है। यदि समय रहते इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो इसका असर इंसानों में भी कैंसर और चर्म रोग के मरीजों की बढ़ी हुई संख्या के रूप में सामने आ सकता है। सब्जियों के लिए सबसे ज्यादा चिंताजनक - इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ सॉइल साइंस (आईआईएसएस) के वैज्ञानिकों ने राजधानी के प्रमुख पातरा नाले (भानपुर नाला) किनारे भानपुर से हलाली डैम के बीच 24 स्थानों पर मिट्‌टी, भूजल, फसलों और पेड़-पौधों पर अध्ययन किया कैडमियम (सीडी), मैग्नीशियम, निकिल की मात्रा तय मानक से ज्यादा पाई गई है। - यहां लेड, कॉपर और आयरन की मात्रा भी सामान्य से बढ़ रही है। इस नाले का संपूर्ण सीवेज और हैवी मैटल युक्त गंदगी हलाली डैम के अंदर जमा होती जा रही है। - मिट्टी और पानी को प्रदूषित करने वाले तत्वों पर अध्ययन करने वाले आईआईएसएस के डॉ. अरविंद शुक्ला के मुताबिक नालों के पानी का असर मिट्‌टी से ज्यादा फसल, पौधों और सब्जियों पर पड़ रहा है। राजधानी का पूरा सीवेज बड़ा तालाब, छोटा तालाब, शाहपुरा झील, हलाली डैम और हथाईखेड़ा डैम में समा रहा है। - सभी तालाब और डैम में ये गाद के रूप में जमा हो रहा है। आईआईएसएस की स्टडी के मुताबिक राजधानी से रोजाना कुल 334.5 एमएलडी सीवेज पैदा होता है। - नगर निगम के 7 सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट में कुल सीवेज ट्रीटमेंट की क्षमता 80 एमएलडी है। - यानी 75 फीसदी से ज्यादा (254.5 एमएलडी) सीवेज अनट्रीटेड रह जाता है और खुले नालों से होकर बहता है। - इस सीवेज का सबसे ज्यादा हिस्सा हलाली डैम और बड़े तालाब में जमा हो रहा है।


मप्र मानसून अपडेट: बेतवा उफनी, विदिशा का अशोकनगर से संपर्क कटा
Our Correspondent :29 July 2017
भोपाल, होशंगाबाद और इंदौर समेत प्रदेश के कई शहरों में शुक्रवार को दिन भर बारिश हुई। भोपाल में शाम 5:30 बजे तक 1.99 सेमी बारिश दर्ज की गई। शनिवार को उज्जैन, रायसेन, गुना, शाजापुर और देवास में भारी बारिश का अलर्ट है। गुरुवार को रातभर शहर बारिश से तर होता रहा। ऐसा इस सीजन में पहली बार हुआ। शुक्रवार को भी रुक-रुककर कभी तेज तो कभी हल्की बारिश होती रही। इस बारिश ने जुलाई का कोटा पूरा होने की उम्मीद बढ़ा दी है। गुरुवार रात 9 घंटे में 4.10 सेमी पानी बरसा। गुरुवार सुबह से शुक्रवार सुबह तक 4.48 सेमी बारिश हुई। इससे बड़े तालाब के लेवल में 0.10 फीट का इजाफा हुआ। यह फुल टैंक लेवल से अब भी 6.80 फीट कम है। बारिश के कारण चांदबड़, अशोका गार्डन, निजामुद्दीन कालोनी, शिवनगर, कृष्णा नगर, दाता कालोनी, एअरपोर्ट रोड, सुविध विहार, विजय नगर, काजी कैंप, छोला रोड, बाबा नगर, ईश्वर नगर समेत आसपस के क्षेत्र में बिजली गुल रही। 7.47 सेमी कम है सामान्य बारिश से -41.61 सेमी इस सीजन में अब तक हुई बारिश -उम्मीद... जुलाई का कोटा पूरा होने के लिए चाहिए सिर्फ 5.82 सेमी बारिश -असर... 24 घंटे में बड़े तालाब के स्तर में 0.10 फीट का इजाफा -दिक्कत... कई इलाकों में बिजली गुल रही, कुछ निचले इलाकों में भरा पानी बारिश के कारण शुक्रवार को श्रीधाम, छत्तीसगढ़, मालवा, कुशीनगर एक्सप्रेस, दक्षिण, झेलम, तेलंगाना, शताब्दी एक्सप्रेस और अमृतसर-दादर एक्सप्रेस समेत कई ट्रेनें देरी से आईं। ये ट्रेनें 40 मिनट से 8 घंटे तक की देरी से भोपाल पहुंची।


नागपंचमी शुक्रवार को, साल में एक बार खुलते हैं नागचंद्रेश्वर के पट
Our Correspondent :27 July 2017
उज्जैन। प्रदेशभर में नागपंचमी का पर्व शुक्रवार, 28 जुलाई को मनाया जाएगा। इस दिन उज्जैन के विश्व प्रसिद्ध महाकालेश्वर मन्दिर परिसर में महाकाल मन्दिर के प्रथम तल पर स्थित नागचंद्रेश्वर के पूजन-अर्चन के लिये लाखों श्रद्धालु उज्जैन पहुंचेंगे। बता दें कि महाकाल परिसर में नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट साल में एक बार खुलते हैं और इस दौरान लाखों श्रद्धालु भगवान नागचंद्रेश्वर के दर्शन करने के लिए यहां पहुंचते हैं। हिंदू धर्म में सदियों से नागों की पूजा करने की परंपरा रही है। हिंदू परंपरा में नागों को भगवान का आभूषण भी माना गया है। भारत में नागों के अनेक मंदिर हैं, इन्हीं में से एक मंदिर है उज्जैन स्थित नागचंद्रेश्वर का, जो की उज्जैन के प्रसिद्ध महाकाल मंदिर की तीसरी मंजिल पर स्थित है। नागचंद्रेश्वर मंदिर में 11वीं शताब्दी की एक अद्भुत प्रतिमा है, इसमें फन फैलाए नाग के आसन पर शिव-पार्वती बैठे हैं। कहते हैं यह प्रतिमा नेपाल से यहां लाई गई थी। उज्जैन के अलावा दुनिया में कहीं भी ऐसी प्रतिमा नहीं है। माना जाता है कि पूरी दुनिया में यह एकमात्र ऐसा मंदिर है, जिसमें विष्णु भगवान की जगह भगवान भोलेनाथ सर्प शय्या पर विराजमान हैं। मंदिर में स्थापित प्राचीन मूर्ति में शिवजी, गणेशजी और माँ पार्वती के साथ दशमुखी सर्प शय्या पर विराजित हैं। शिवशंभु के गले और भुजाओं में भुजंग लिपटे हुए हैं। पौराणिक मान्यता सर्पराज तक्षक ने शिवशंकर को मनाने के लिए घोर तपस्या की थी। तपस्या से भोलेनाथ प्रसन्न हुए और उन्होंने सर्पों के राजा तक्षक नाग को अमरत्व का वरदान दिया। मान्यता है कि उसके बाद से तक्षक राजा ने प्रभु के सान्निध्य में ही वास करना शुरू कर दिया यह मंदिर काफी प्राचीन है। माना जाता है कि परमार राजा भोज ने 1050 ईस्वी के लगभग इस मंदिर का निर्माण करवाया था। इसके बाद सिंधिया घराने के महाराज राणोजी सिंधिया ने 1732 में महाकाल मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया था। उस समय इस मंदिर का भी जीर्णोद्धार हुआ था। कहा जाता है इस मंदिर में दर्शन करने के बाद व्यक्ति किसी भी तरह के सर्पदोष से मुक्त हो जाता है। इसलिये खुलता है वर्ष में एक बार महाकाल मन्दिर के सूत्र बताते हैं कि भगवान नागचंद्रेश्वर की प्रतिमा परमारकालीन है। महाकाल मन्दिर में स्थापित शिवलिंग की सुरक्षा के लिये जब शिखर का निर्माण किया गया, उस समय गर्भगृह के ऊपर शिवलिंग की स्थापना की गई, जिसका नाम ऊंकार रखा गया। इसी प्रकार ऊंकार मन्दिर के ऊपर नागचंद्रेश्वर की मूर्ति की स्थापना की गई। मूल रूप से नागचंद्रेश्वर की मूर्ति नेपाल से लाई गई थी। चूंकि महाकाल मन्दिर का क्षेत्र चारों ओर से वन से घिरा था, इसलिये सुरक्षा की दृष्टि से संभवत: इस प्रकार का निर्माण कार्य किया गया। गहन वन क्षेत्र में होने से सामान्य रूप से भक्त ऊपर दर्शन करने नहीं जाते थे, इसलिये वर्ष में एक बार नागचंद्रेश्वर के मन्दिर को खोलकर वहां साफ-सफाई एवं पूजा-अर्चना की जाती थी। बाद में इसने परम्परा का रूप ले लिया और वर्ष में एक बार नागचंद्रेश्वर भगवान के पट खुलने लगे।


मप्र विस में विपक्ष का हंगामा, सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित
Our Correspondent :26 July 2017
भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा के मानसून सत्र में बुधवार को सरदार सरोवर बांध को लेकर विपक्ष ने जमकर हंगामा किया। भारी हंगामे को देखते हुए विधानसभा अध्यक्षा डॉ. सीतासरन शर्मा ने सदन की कार्रवाई अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी। कार्रवाई स्थगित होने के बाद भी सदन में विपक्षी विधायक बैठे रहे और हंगामा करते रहे। इसके बाद सदन के बाहर आकर कांग्रेसी विधायकों ने धरना दिया और उसके बाद सीएम हाउस के लिए पैदल मार्च करते हुए निकल पड़े। बुधवार को विधानसभा में सदन की कार्रवाई हंगामे के बीच शुरू हुई और मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस के विधायकों ने सदन में सरदार सरोवर बांध के विस्थापित लोगों को मामला उठाते हुए चर्चा की मांग की। इस दौरान कांग्रेसी विधायकों ने सदन में जोरदार हंगामा किया और कुछ विधायक अपनी सीटों से खड़े होकर हंगामा करते हुए विधानसभा अध्यक्ष की सीट के सामने पहुंच गए। हंगामा बढ़ते देख विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा ने सदन की कार्यवाही दस मिनट के लिए स्थगित कर दी। इसके बाद दोबारा कार्रवाई शुरू हुई, तो कांग्रेस विधायक बाला बच्चन ने फिर डूब प्रभावित परिवारों का मामला सदन में उठाया और चर्चा की मांग की। इस पर विधानसभा अध्यक्ष ने मामले को प्रश्नकाल में उठाने की बात कही। इस पर विपक्ष के विधायक सदन में जोर-शोर से हंगामा करने लगे। इसी बीच नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने सरकार पर डूब प्रभावित परिवारों को लेकर चर्चा नहीं करने का आरोप लगातेहुए सदन के स्थगन की मांग की। इस दौरान कांग्रेस विधायकों का हंगामा लगातार बढ़ता गया और इसे देखते हुए विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा ने सदन की कार्यवाही अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दी। बता दें कि विगत मध्यप्रदेश की चौदहवीं विधानसभा का मानसून सत्र विगत 17 जुलाई को शुरू हुआ था। 28 जुलाई तक चलने वाले इस 12 दिवसीय सत्र में कुल 10 बैठकें होनी थी, लेकिन पहले दिन राष्ट्रपति चुनाव के लिए हुए मतदान के चलते दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि देने के साथ ही सदन की कार्रवाई अगले दिन तक के लिए स्थगित कर दी गई थी। इसके बाद पिछले मंगलवार से शुक्रवार तक सदन में हंगामेदार कार्रवाई चलती रही और सोमवार-मंगलवार को भी सदन की कार्रवाई हंगामेदार ही रही। इस दौरान कांग्रेस के साथ-साथ भाजपा विधायकों ने भी अपनी सरकार को घेरने का प्रयास किया, लेकिन बुधवार को कांग्रेस ने आक्रामक रूख के साथ सदन में सरदार सरोबर बांध के प्रभावितों का मामला उठाया और सदन की कार्रवाई नहीं चलने दी। कांग्रेस के हंगामे के बीच सदन की कार्रवाई दो दिन पहले ही अनिश्चित काल के लिए स्थगित हो गई। सदन की कार्रवाई स्थगित होने के बाद भी कांग्रेस का हंगामा जारी रहा। विपक्ष के विधायक सदन में बैठे रहे और हंगामा करते रहे और कुछ देर बाद कांग्रेस विधायक सदन से बाहर आए और धरने पर बैठ गए। इस दौरान उन्होंने सरकार पर सरदार सरोवर बांध के विस्थापित लोगों की समस्याओं की अनदेखी करने के आरोप सरकार पर लगाए और जोरदार नारेबाजी की। करीब आधे घंटे के धरने के बाद विपक्षी विधायक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का आवास घेरने के उद्देश्य से पैदल ही सीएम हाउस की ओर रवाना हुए। फिलहाल नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, बाला बच्चन जैसे दिग्गज कांग्रेसियों के नेतृत्व में विपक्ष के विधायक सीएम हाउस की ओर जा रहे थे, लेकिन पुलिस ने विधानसभा के बाहर चारों ओर बेरिकेट्स लगाकर विधायकों को रोकने का प्रयास किया। फिलहाल पुलिस के आला अधिकारियों ने कांग्रेसी विधायकों को रास्ते में रोक रखा और उन्हें सीएम हाउस की ओर आगे नहीं बढऩे दिया जा रहा है।


प्याज खरीदी में हुआ करोड़ों का घोटाला
Our Correspondent :24 July 2017
भोपाल। मध्‍यप्रदेश में समर्थन मूल्‍य पर खरीदी गई प्‍याज की अब असलियत भी सामने आने लगी है। प्रदेश के कई मंडियों में हुई बंपर खरीदी से जहां प्‍याज सड़ रहा तो दूसरी ओर अधिकारी इसमें कमीशन खोरी में भी कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं। जानकारी के अनुसार मध्‍यप्रदेश सरकार द्वारा किसानों से समूर्थन मूल्‍य पर आठ रूपए किलो खरीदी गई प्‍याज न पूरी तरह गरीबों को बांटी जा रही न ही सुरक्षित भंडारणों में रखी गई। इतनी बारिश में मंडियों में लगे तीन शेडों में सड़ रही है। जिससे बदबू आने से और गंभीर बीमार का खतरा बढ़ सकता है। प्‍याज में हुए भ्रष्‍टाचार को लेकर एक मंडी अधिकारी फंस भी चुके हैं जिन्‍हें सरकार ने सस्‍पेंड कर दिया है। दूसरी ओर प्रदेश के रायसेन जिले में भी प्याज की नीलामी एक और घोटाला आ गया है। कृषि उपज मंडी में 326 रुपये क्विंटल की दर से नीलामी होने वाली करीब 5 हज़ार क्विंटल प्याज को अधिकारियों की मिली भगत से 250 रुपये प्रति क्विंटल की दर से दे गई । जानकारी के अनुसार इस प्याज की बोली लगाने वाले दूसरे व्यापारी ने 325 रुपये प्रति क्विंटल की दर से अपनी से बोली लगाई थी, किन्‍तु अधिकारियों ने ऐसा नहीं किया और अपने चहेतों को प्‍याज नीलाम कर दी। जिससे सरकार को लाखों रूपए का घाटा हुआ है। वहीं कुछ व्‍यापारियों का कहना है कि इस गड़बड़ी में नागरिक आपूर्ति निगम, खाद्य विभाग और कृषि मंडी के अधिकारियों साठगाठ है। विदित हो कि प्‍याज घोटाले को लेकर नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने सीबाई से जांच कराने तक की मांग कर दी है। उन्‍होंने विधानसभा में कहा था कि किसानों के नाम पर खरीदी गई प्याज को सड़ा बताकर सरकार ने 500 करोड़ रूपए का घोटाला किया है। उन्होंने कहा कि इस प्रकरण को भी सीबीआई को सौंपा जाना चाहिए।


भाजपा ने निकाय चुनावों के लिए घोषित किए प्रत्याशी
Our Correspondent :22 July 2017
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने अध्यक्ष पद के किए नगरीय निकाय के चुनावों के लिए प्रत्याशियों के नामों की घोषणा कर दी है। भारतीय जनता पार्टी की जिला चयन समिति और संभागीय चयन समिति ने यह घोषणा शनिवार सुबह की और घोषणा में कहा गया कि यह चुनाव 11 अप्रैल को होगा। जारी की गई प्रत्याशियों की सूची मेंं जिला शहडोल के बुढ़ार से कैलाश विशनानी, जयसिंह नगर से अशोक पांडे, जिला डिंडौरी से पंकज टेकाम , शाहपुरा से कमल अग्रवाल, जिला मण्डला के बम्हनीबंजर से सुशीला चौरसिया , बिछिया से वीजेन्द्र काकोडिय़ा, जिला बालाघाट के बैहर से सुरेन्द्र मरकाम, जिला सिवनी के लखनादौन से आशीष गोलानी, जिला छिंदवाड़ा के हरई से मोनिका शंभुदयाल साहू, जिला बैतूल के आठनेर से सूरज राठौर , चिचैली से संतोष मालवीय, जिला खरगौन के भीकनगांव से दीपक ठाकुर एवं मण्डलेश्वर से मनीषा मनोज शर्मा, जिला अलीराजपुर के भाबरा से निर्मला डाबर एवं जोबट से रमीला दीपक चौहान, जिला झाबुआ के रानापुर से सुनीता अजनार, पेटलावद से मनोहर भटेवरा , थांदला से बंटी डामोर और रतलाम जिले के सैलाना से क्रांति जोशी को उम्मीदवार बनाया गया है। इसी प्रकार नगरपालिका परिषदों के लिए शहडोल से उर्मिला कटारे, अनूपपुर के बिजूरी से पुरुषोत्तम सिंह , कोतमा से मोहनी धमेन्द्र वर्मा, मण्डला के नैनपुर से नरेश चन्द्रोल, छिंदवाड़ा जिले के दमुआ से कमल चौकीकर, जुन्नारदेव (जामई) से शिखा जैन, सौसर से संजय राठी ,पांर्ढुना से राजू रेवतकर, बैतूल के सारणी से आरती झरवड़े, अलीराजपुर से भादू पचाया एवं झाबुआ से बसंती बारिया को प्रत्याशी घोषित किया गया है।


मजदूरों से भरी ट्रैक्टर ट्राली पलटी, छह की मौत
Our Correspondent :21 July 2017
रायसेन। मध्य प्रदेश के रायसेन जिले में शुक्रवार सुबह मजदूरों से भरी एक ट्रैक्टर ट्राली पलट गई। इस भीषण हादसे में उसमें सवार छह मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि 20 अन्य घायल हो गए। घायलों को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं। जानकारी अनुसार शुक्रवार सुबह औबेदुल्लागंज के तामोट गांव में मजदूरों से भरी एक ट्रैक्टर ट्राली पलट गई। हादसे के वक्त ट्रैक्टर की रफ्तार तेज होने के कारण ड्राइवर उससे अपना संतुलन खो बैठा और ट्राली सडक़ से नीचे गड्ढे गई। इस भीषण हादसे में ट्रैक्टर सवार 6 मजदूरों की मौत हो गई और 20 घायल हो गए। ट्राली में करीब 30 मजदूर सवार थे। हादसे की सूचना मिलने के बाद पुलिस और एंबुलेंस मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा कर घायलों को इलाज के लिए अस्पताल भिजवाया है।


कागज की थैलियों का कारोबार तेजी से बढ़ा
Our Correspondent :19 July 2017
भोपाल/इंदौर। शहर में प्लास्टिक की थैलियों में नगर निगम की सख्ती के चलते कागज की थैलियों का कारोबार तेजी से बढ़ा है। कई कचरा बीनने वाली महिलाओं को भी कागज की थैलियां बनाने का काम मिल गया है। इसके साथ ही प्लास्टिक कैरी बैग पर प्रतिबंध लगाए जाने से खाकी कलर की थैलियां भी बाजार में अब दिखाई देने लगी है। वहीं कपड़े की थैलियां भी अब हर तीसरे हाथ में आ गई है। दिक्कत मांग की आपूर्ति नहीं होने से हो रही है, क्योंकि कागज की थैलियां बनाने वाले कम पड़ रहे हैं। शहर में कागज की थैलियां बनाने वाले लोगों की संख्या बेहद कम है और मांग अधिक हो रही है। अभी भी हाथों की थैलियां बाजार में दुकानों पर पहुंच रही है। अब इंदौर में कागज की थैलियां बनाने वाली मशीनों को लगाने की तैयारी शुरू हो गई है। अब नगर निगम द्वारा सभी जगहों पर प्लास्टिक की थैलियों पर प्रतिबंध लगाने का असर दिख रहा है। इसके अलावा पानी की खाली पाउच भी अब सड़कों पर नहीं दिख रहे हैं। चाय की पत्तियों के लिए बनने वाली खाकी थैलियों की मांग अब अन्य क्षेत्रों में भी बढ़ने लगी है। थैली बनाने वाले एक व्यक्ति ने कहा कि पहले वह अकेला थैली बनाता था परंतु अब मांग बढ़ने पर पूरी परिवार को इस काम में लगाना पड़ रहा है। वर्तमान में खाकी कागज की थैलियां 50 रुपये, अखबार के कागज की थैलियां 20 से 30 रुपये किलो के भाव पड़ रही है। इससे व्यापारी भी खुश हैं।


सावन का दूसरा सोमवार: शिवालयों में उमड़ी भीड़
Our Correspondent :17 July 2017
भोपाल/इंदौर। मध्यप्रदेश में श्रावण मास को लेकर शिवभक्तों में अलग ही उत्साह देखने को मिल रहा है। आज सावन का दूसरा सोमवार है और प्रदेशभर में अलसुबह से शिवालयों और अन्य मंदिरों में लोगों को भीड़ उमड़ पड़ी। सुबह से शिव मंदिरों पर विशेष श्रृंगार के साथ अभिषेक और महारुद्राभिषेक का कार्यक्रम शुरू हुए, जो दोपहर तक चलते रहे। राजधानी भोपाल, इंदौर समेत प्रदेश के सभी मंदिरों में शिव की उपासना को लेकर सुबह से भजन कीर्तन चलते रहे। वहीं, प्रशासन ने भी सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए हैं। इंदौर के परदेशीपुरा के गेंदेश्वर महादेव मंदिर पर उमड़ रही भीड़ के बाद यहां पुलिस की अतिरिक्त व्यवस्था की गई है। इसके अलावा शहर के अन्य बड़े मंदिरों पर भी यही स्थिति है। आज सुबह सावन के दूसरे सोमवार पर शिवभक्तों ने जहां शिव मंदिरों में पूजा अर्चना का काम प्रारंभ किया। वहीं शहर के बाहरी क्षेत्र से आज छोटी छोटी टुकडिय़ों में कावडि़ए भी आते रहे। जिनके लिए बाहरी क्षेत्र में खाने और आराम की व्यवस्थाएं की गई थी। सुबह से ही जबरेश्वर महादेव, देवगुराडिया, गेंदेश्वर महादेव, पंचकुइया, बजरंग नगर में पशुपतिनाथ, अमृतपुरम में महामृत्युंजय मंदिर, केसरबाग के अलावा शहर के अन्य शिव मंदिरों पर सुबह से पूजा अर्चना जारी रही। आज भी दूध अभिषेक से लेकर पंचामृत अभिषेक के अलावा महारूद्राभिषेक के पाठ भी शुरू हुए। वहीं बड़ी तादाद में आज सुबह इंदौर से लोग महाकाल और ओंकारेश्वर के लिए भी रवाना हुए। सुबह से मंदिरों में भजन, पूजन के अलावा दर्शन के लिए भी भीड़ लगी रही। आज रात तक सभी बडे मंदिरों पर दर्शन करने के लिए आने वाले लोगों की सुरक्षा के लिए पुलिस ने विशेष प्रबंध किए हैं। कल शहर में हुई बारिश के बाद आज तापमान में भी गिरावट रही। उसके कारण भी मंदिरों पर पहुंचने वालों की संख्या अधिक रही।


लालघाटी-एयरपोर्ट के मध्य फ्लाईओवर बनाया जायेगा
Our Correspondent :14 Jul 2017
लालघाटी-एयरपोर्ट के मध्य फ्लाईओवर बनाया जायेगा। इसके निर्माण के लिये निविदा आमंत्रित की गई है। इसका काम 20 जुलाई के बाद शुरू किया जायेगा। इसी प्रकार, देवास बायपास रोड 6-लेन बनाई जायेगी। इसका काम अक्टूबर के बाद शुरू होगा। यह जानकारी आज मंत्रालय में अपर मुख्य सचिव गृह श्री के. के. सिंह की अध्यक्षता में सम्पन्न मध्यप्रदेश राज्य सड़क सुरक्षा क्रियान्वयन समिति की बैठक में दी गयी। बैठक में सड़क सुरक्षा से संबंधित विभिन्न विषयों पर चर्चा की गई। पुलिस महानिदेशक श्री ऋषि कुमार शुक्ला ने बैठक में कई महत्वपूर्ण सुझाव दिये। जिला-स्तरीय समिति में पुलिस अधीक्षक होंगे उपाध्यक्ष बैठक में जिला-स्तरीय समिति में पुलिस अधीक्षक को उपाध्यक्ष बनाने का निर्णय लिया गया। साथ ही संभागीय एवं जिला मुख्यालय पर समिति की बैठक नियमित करने के निर्देश दिये गये। बैठक में बताया गया कि कक्षा 4 और 7 के पाठ्यक्रम में सड़क सुरक्षा विषय का समावेश पहले से किया गया है। संचालक लोक शिक्षण द्वारा राज्य शिक्षा केन्द्र (एनसीआरटी) भोपाल को सड़क सुरक्षा पर जागरूकता विषय को स्कूली शिक्षा के पाठ्यक्रम में शामिल करने के लिये पत्र लिखा है। इसी के साथ सभी जिला शिक्षा अधिकारी को स्कूल बस तथा स्कूल वैन चालकों को जिला सड़क सुरक्षा समिति के माध्यम से समन्वय कर एक दिवसीय प्रशिक्षण देने के निर्देश दिये गये हैं। सहायक उप पुलिस निरीक्षक तक के अधिकारी को चालानी कार्यवाही का अधिकार बताया गया कि 32 ट्रॉमा-सेन्टर कार्यशील हैं और 43 की बिल्डिंग तैयार की जा चुकी है। निर्देश दिये गये कि ट्रॉमा-सेन्टर के माध्यम से बचाये गये लोगों की संख्या की अद्यतन स्थिति बतायें। बैठक में यातायात प्रवर्तन कार्यवाही के तहत यातायात जिला इकाई के थानों में पदस्थ सहायक उप पुलिस निरीक्षक तक के अधिकारी को चालानी कार्यवाही करने का अधिकार देने पर सहमति बनी। बताया गया कि जिला इंदौर में ड्रायविंग लायसेंस ट्रेक सेन्टर का निर्माण हो चुका है और 37 जिलों के आफिस में इसके लिये ट्रेक बनकर तैयार हैं। प्रदेश में 192 ड्रायविंग स्कूल संचालित है। प्रदेश में पिछले 4 साल में 45 हजार 429 भारी वाहन चालकों को प्रशिक्षण दिया गया है। साथ ही परिवहन अधिकारियों को प्रत्येक मंगलवार को उनकी अधिकारिता में 50 यान चालकों को प्रशिक्षण देने के निर्देश दिये गये है। विशेष अभियान में चालानी कार्यवाही बिना हेलमेट धारण किये दो पहिया वाहन चालकों के विरुद्ध 15 अप्रैल से 30 जून तक विशेष अभियान प्रदेश में चलाया गया। अभियान के दौरान वाहन चालकों के 1 लाख 96 हजार 561 चालान बनाकर 4 करोड़ 91 लाख 85 हजार शमन शुल्क वसूला गया। इसी प्रकार 11 मार्च से 11 जून तक बिना हेलमेट धारण किये दो पहिया वाहन चालाकों के विरुद्ध 2 लाख 34 हजार 521 चालान बनाकर 6 करोड़ 38 लाख 24 हजार 800 रुपये शमन शुल्क वसूल किया गया। इसी अवधि में नाबालिग वाहन चालाकों के विरुद्ध 277 चालान बनाकर 3 लाख 86 हजार 300 रुपये शमन शुल्क वसूल किया गया है। बताया गया कि सभी कलेक्टर-पुलिस अधीक्षक को बीआईएस नार्म्स के हेलमेट का राज्य में विक्रय होने संबंधी निर्देश जारी किया है। ड्रायविंग लायसेंस निलंबन शराब पीकर वाहन चलाने वाले चालकों के विरुद्ध 19 जून से 9 जुलाई तक 4 हजार 726 चालान बनाकर न्यायालय पेश किये गये और 556 प्रकरण ड्रायविंग लायसेंस निलंबन के लिये परिवहन अधिकारी की ओर भेजे गये हैं। राज्य सड़क सुरक्षा क्रियान्वयन समिति में आबकारी विभाग का नोडल अधिकारी नियुक्त करने बैठक में सहमति बनी। बैठक में मवेशियों के कारण होने वाली दुघर्टना को रोकने के लिये ग्राम पंचायत-स्तर से गाँव वालों के लिये जागरूकता अभियान चलाने का सुझाव दिया गया। बैठक में प्रमुख सचिव परिवहन श्री एस.एन. मिश्रा, परिवहन आयुक्त श्री शैलेन्द्र श्रीवास्तव, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सचिव श्री कवीन्द्र कियावत, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री विजय कटारिया उपस्थित थे।


बादलों के छाने से मौसम हुआ सुहावना, गर्मी और उमस से राहत देने वाली रही सुबह
Our Correspondent :12 Jul 2017
भोपाल। राज्य में बुधवार की सुबह गर्मी और उमस से राहत देने वाली रही। आसमान में बादलों के छाने के चलते मौसम सुहावना रहा। मौसम विभाग के अनुसार, राज्य के लगभग हर हिस्से में मानसून सक्रिय है। बीते 24 घंटों के दौरान सागर, जबलपुर, भोपाल और चंबल संभाग के कुछ हिस्सों में बारिश दर्ज की गई -मौसम विभाग ने राज्य के अधिकांश हिस्सों में सामान्य बारिश होने का अनुमान जताया है। वहीं, रीवा संभाग व छतरपुर, टीकमगढ़, पन्ना, कटनी, उमरिया, शहडोल आदि स्थानों पर भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। -राज्य के मौसम में बदलाव का क्रम लगातार बना हुआ है। बुधवार को भोपाल का न्यूनतम तापमान 24.6 डिग्री, इंदौर का 22 डिग्री, ग्वालियर का 25.1 डिग्री और जबलपुर का 24 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। -भोपाल का मंगलवार को अधिकतम तापमान 34.5 डिग्री, इंदौर का 31.2 डिग्री, ग्वालियर का 34.1 डिग्री और जबलपुर का 30.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मानसून की आमद को 16 दिन बीत गए, लेकिन इस सीजन में अब तक सिर्फ 11.37 सेमी बारिश ही हुई है। यह सामान्य से 15.09 सेमी कम है। ऐसी स्थिति सात साल बाद बनी है। इससे पहले जुलाई 2010 में भी जुलाई का पहला पखवाड़ा इसी तरह सूखा रहा था। भोपाल के मौसम के लिहाज से जुलाई में अब तक 26.46 सेमी बारिश सामान्य रूप से हो जानी चाहिए थी, लेकिन इसकी आधी भी नहीं हुई है। -मौसम वैज्ञानिकों ने बताया कि बारिश के लिए जरूरी मानी जाने वाली ट्रफ लाइन हिमालय की तराई में शिफ्ट हो गई थी। अरब सागर से मिल रही नमी पंजाब से लेकर उत्तराखंड तक चली गई थी। यदि ट्रफ लाइन राजस्थान के गंगानगर से प्रदेश के ग्वालियर, सागर, रीवा से गुजरती तो यहां बारिश होती। -राजधानी सहित प्रदेश के चार मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस की पढ़ाई महंगी हो गई है। प्रवेश एवं शुल्क निर्धारण विनियामक समिति ने अपीलीय अधिकारी के आदेश के बाद चारों मेडिकल कॉलेजों की फीस में 7 से लेकर 42.8 प्रतिशत तक की वृद्धि कर दी है।


राजस्व मंत्री ने काटजू व जेपी अस्पताल में सुनी मरीजों की समस्याएँ
Our Correspondent :10 Jul 2017
भोपाल। प्रदेश के राजस्व, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने सोमवार को सुबह राजधानी भोपाल के दो बड़े सरकारी अस्पतालों काटजू और जेपी हास्पिटल में मरीजों की समस्याएँ सुनीं। श्री गुप्ता ने काटजू हास्पिटल में मरीजों की लम्बी लाइन होने पर उनके बैठने की व्यवस्था करने के निर्देश दिये। जे.पी. हास्पिटल में एक मरीज ने कहा कि दवाई लेने के लिए देर तक खड़े रहना पड़ता है, यहाँ बेंच रखवाने के साथ ही एक और विंडो में दवाई का वितरण करवाया जाये। श्री गुप्ता ने आवश्यकतानुसार सुविधा उपलब्ध करवाने की बात कही। उन्होंने कहा कि हास्पिटल की समस्याओं के निराकरण के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तथा विभागीय अधिकारियों से भी चर्चा की है। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


मप्र में सब्जियां हुईं महंगी, टमाटर बिक रहा 80 रुपये किलो
Our Correspondent :6 Jul 2017
भोपाल। मध्यप्रदेश में मानसून ने दस्तक तो दे दी है, लेकिन बारिश का अभी कोई अता-पता ही नहीं हैं। हालांकि, कहीं-कहीं छुटपुट बारिश हुई है, लेकिन लोग अभी भी झमाझम बारिश का इंतजार कर रहे हैं। ऐसे में मध्यप्रदेश में सब्जियों के दाम आसमान पर पहुंच गए हैं। प्रदेश के बाजारों सब्जी खरीदने के लिए पहुंचे लोगों के सब्जी के रेट सुनकर पसीने छूट गए। एक हफ्ते पहले तक सस्ती बिकने वाली सब्जी के रेट तीन गुना से अधिक हो गए हैं। मंडी में जहां सब्जियां 40 से 80 रुपये किलो तक बिकीं तो ठेलों पर सब्जी के दाम 60 से 80 रुपये किलो के भाव बेचे जा रहे हैं। अचानक महंगी हुई सब्जी के कारण लोगों ने सिर्फ जरूरत की सब्जी खरीदी। मंडी से मिली जानकारी के अनुसार टमाटर 60 से 80 रुपये किलो, भिंडी 40 रुपये किलो, गिलकी 40-50 रुपये, धनिया 100 रुपये किलो, लौकी 30 सेp;रुपये किलो और हरीमिर्च 60 रुपये किलो और बेगन 70 रुपये किलो बिके। शास्त्री पार्क और ठेलों पर सब्जियों के रेट मंडी से डेढ़ गुना तक अधिक नजर आए। इन दिनों सब्जियों के भाव अचानक आसमान छू रहे हैं। अब तक 10-15 रुपये किलो बिकने वाली सब्जियां इतनी महंगी हो गई कि लोग उन्हें खरीदने से पहले कई बार सोच रहे हैं। सुबह मंडी में सब्जी खरीदने के लिए पहुंची अर्चना पालीवाल ने बताया कि वे अवकाश होने के कारण एक हफ्ते बाद सब्जी खरीदने के लिए मंडी पहुंची। उन्होंने जैसे ही सब्जियों के भाव सुने तो उन्हें यकीन नहीं हुआ कि मंडी में इतनी महंगाई आ गई। उन्होंने चार दुकानों पर भाव पूछे। वे एक हफ्ते की सब्जी खरीदने के लिए गई थीं, लेकिन दो दिन के लायक सब्जी खरीदकर लौट आईं। मंडी में थोक सब्जी विक्रेताओं ने बताया कि इन दिनों में सब्जियों की आवक बेहद कम हो जाती है। इस कारण रेट उछल गए हैं। इन दिनों प्रदेश में कहीं से भी टमाटर नहीं आ रहा है। केवल राजस्थान से कम मात्रा में टमाटर आ रहा है, जिसके कारण महंगा हो गया। यही स्थिति फलों की हो रही है। इस बार दशहरी आम भी महंगा हो गया है। अभी दशहरी आम 60 से 80 रुपये किलो बिक रहा है।


सूरत में पुलिस की कार्रवाई के खिलाफ प्रदेश का कपड़ा कारोबार बंद
Our Correspondent :5 Jul 2017
भोपाल/इंदौर। देश के प्रमुख कपड़ा व्यवसाय जीएसटी के विरोध में उतरे व्यापारियों पर सोमवार को पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई के बाद मध्यप्रदेश के व्यापारियों में आक्रोश देखने को मिल रहा है। इसी के चलते बुधवार को राजधानी भोपाल, इंदौर सहित प्रदेश के सभी थोक कपड़ा व्यापार बंद रहे। म.प्र. थोक व्यवसायी महासंघ के अध्यक्ष हंसकुमार जैन ने बताया कि सरकार जीएसटी को लेकर हमें बेवजह परेशान कर रही है। हम अपनी मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं, जिसे सरकार को स्वीकारना ही होगा। सूरत के हमारी व्यापारी भाईयों के साथ पुलिस ने लाठीचार्ज कर पिटाई की, जिसके विरोध में आज मध्यप्रदेश के सभी थोक कपड़ा व्यापारियों ने अपना कारोबार बंद रखा। भोपाल और इन्दौर में भी बुधवार को सुबह से दो बजे तक जहां धरना प्रदर्शन किया गया, वहीं अपना पूरा कारोबार भी बंद रखा। बंद के दौरान क्लाथ मार्केट, सीतलामाता बाजार आदि बंद रहे। कपड़े पर टैक्स लगाने को लेकर व्यापारियों का कहना है कि सरकार इसे हटाए नहीं तो कपड़ा व्यवसायी अपना आंदोलन सतत रूप से चलाएंगे। जीएसटी के कठोर प्रावधानों के कारण सभी का कारोबार चौपट हो जाएगा। सरकार यार्न पर जीएसटी लगाकर कपड़े को मुक्त रखे। जैन ने बताया कि प्रदेश ही नहीं देश के प्रमुख शहरों में भी कपड़ा कारोबार बंद रखा गया। इस बंद को भारी समर्थन मिला है, जो सरकार के विरोध में दर्ज हुआ है।


पुरानी जेल के तात्या टोपे स्कूल का होगा जीर्णोद्वार, हुआ भूमि-पूजन
Our Correspondent :4 Jul 2017
भोपाल। राजधानी भोपाल की पुरानी जेल परिसर स्थित तात्याटोपे माध्यमिक शाला का जीर्णोद्वार किया जायेगा। छत पक्की की जायेगी। इसके लिए महापौर द्वारा 15 लाख रूपये स्वीकृत किये गए हैं। प्रदेश के राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री उमाशंकर गुप्ता और भोपाल महापौर आलोक शर्मा ने मंगलवार को जीर्णोद्वार कार्यों का भूमि-पूजन किया। राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने कहा कि बच्चे अच्छे से पढ़ाई करें। क्योंकि आज की प्रतिस्पर्धा में 60 प्रतिशत से काम नहीं चलेगा। उन्होंने शिक्षकों से कहा कि विद्यार्थियों को बेहतर शिक्षा दें। श्री गुप्ता ने शासन की जन-लाभकारी योजनाओं की जानकारी दी। महापौर ने कहा कि स्कूल में 5 अतिरिक्त कक्ष बनवाने के साथ ही 3 कम्प्यूटर भी दिये जायेंगे। स्कूल के पास सी.सी. रोड़ भी बनवायी जायेगी। उन्होंने कहा कि ञ्ज.ञ्ज. नगर को तात्या टोपे नगर ही बोले और लिखें। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थ इसी प्रकार राजस्व, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने मंगलवार को पंचशील नगर में आयुर्वेद हास्पिटल के पास नाली एवं सी.सी.रोड का भूमि-पूजन किया। श्री गुप्ता ने कार्य समय-सीमा में पूरा करने के निर्देश दिये। उन्होंने पौध-रोपण भी किया। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।


भोपाल में रिमझिम से हवा में घुली ठंडक, उमस से राहत
Our Correspondent :3 Jul 2017
भोपाल। प्रदेश की राजधानी में आखिरकार मानसून ने अपनी मेहरबानी करना आरंभ कर दिया है। बारिश को तरस रहे शहर में रविवार से जो रिमझिम शुरू हुई, वह पूरी रात होने के बाद सोमवार को भी जारी है। बारिश होने से पारा सामान्‍य से चार डिग्री तक लुढ़का हुआ है। सुबह साढ़े आठ बजे तक पारा 24 डिग्री सेल्‍सियस पर था। इस वजह से उमस से भी राहत मिली हुई है। मौसम विभाग का आंकलन अधिकतम तापमान सोमवार को 29 डिग्री तक रहने का है, जबकि यहां सामान्‍यत: तापमाग्री तक रहने का है। मौसम वैज्ञानिकों का इसे लेकर कहना है कि अभी आगामी दो दिन ओर राजधानी में मौसम का मिजाज ऐसा ही बने रहने के आसार हैं। बादल छाए रहेंगे और दिन में 18 से 20 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवा चल सकती है। उधर, उनका कहना है कि शहर के कुछ हिस्सों में मौसम खुला रहेगा जबकि स्‍थानों पर बूंदाबांदी या हल्की बारिश जारी रहेगी। बतादें कि अभी तक राजधानी में बारिश का कोटा पूरा नहीं हुआ है, जबकि मानसून को दस्तक दिए नौ दिन बीत चुके हैं। प्रदेश की राजधानी में अबतक 15.29 सेमी से 4.58 सेमी सामान्‍य से कम बारिश हुई है।


भाजपा ने किया जीएसटी का स्वागत, व्यापारियों को खिलाई मिठाई
Our Correspondent :1 Jul 2017
भोपाल/इंदौर। देश के साथ-साथ मध्यप्रदेश में शुक्रवार आधी रात के बाद जीएसटी लागू हो गया है। राजधानी भोपाल, इंदौर समेत प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में भाजपा ने जीएसटी लागू होने से खुशी जताते हुए व्यापारियों को मिठाई खिलाई और समर्थन की मांग की। जीएसटी लागू होने से प्रदेश में एक ओर जहां मासूसी देखने को मिल रही है, वहीं दूसरी ओर खुशी का माहौल है। केंद्र में भाजपा सरकार द्वारा यह कर क्रांति लाई गई है, इसलिए पार्टी में उत्साह देखने को मिल रहा है, तो वहीं कांग्रेस समेत अन्य राजनीतिक पार्टियां भाजपा के उत्साह को पचा नहीं पा रही हैं और इसका विरोध कर रही हैं। इधर, व्यापारी वर्ग भी जीएसटी को लेकर दो धड़ों में बंटा हुआ नजर आ रहा है। एक वर्ग में जीएसटी से खुशी का माहौल है, तो दूसरा वर्ग मायूस है। मायूस होने वाले वर्ग में वे लोग हैं, जो अब तक दुकानदारी तो करते थे, लेकिन उनका पंजीयन नहीं था और सामान बेचने पर कोई टैक्स नहीं देना पड़ता था और सारा मुनाफा अपनी जेब में रख लेते थे। अब उन्हें टैक्स देना पड़ेगा। वहीं, जो लोग पहले तरह-तरह के टैक्स जमा करते थे, जीएसटी लागू होने से अब उन्हें केवल एक टैक्स देना पड़ेगा। ऐसे व्यापारी जीएसटी लागू होने से खुश नजर आ रहे हैं। वहीं, आम लोगों को जीएसटी के बारे में कुछ भी जानकारी नहीं है, इसलिए उन्हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ा है। वे तो पहले की तरह ही प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। इधर, जीएसटी लागू होने के बाद भाजपा का उत्साह चरम पर है। राजधानी भोपाल में देर रात को जश्न मनाया गया और शनिवार को सुबह से कार्यकर्ता दुकानदारों को मिठाइयां खिला रहे हैं। यही हाल इंदौर में भी देखने को मिला। वार्ड 6 के पार्षद दीपक जैन टीनू ने युवा मोर्चा के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर मल्हारगंज क्षेत्र में व्यापारियों को मिठाई खिलाई। इस मौके पर व्यापारियों ने यह भी कहा कि जीएसटी की अधिक से अधिक जानकारी देने के लिए सेमिनार और वर्कशाप आयोजित की जाए। इस आयोजन में मुकेश खाटवा, बाबू कौशल, शिवनारायण कुशवाह, दिनेश शर्मा, अंकित रावल, नीतिन अग्रवाल, सम्यक जैन, हरीश कछवाह, विक्की यादव सहित युवा मोर्चा के कार्यकर्ता और व्यापारी उपस्थित रहे।


प्रदेश के लॉजिस्टिक हब बनने की अपार संभावनाएं: सीएम शिवराज
Our Correspondent :30 Jun 2017
भोपाल। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से शुक्रवार को चीनी प्रतिनिधि-मंडल ने राजधानी भोपाल पहुंचकर सीएम हाउस में मुलाकात की। इस अवसर पर गुआंग्शी विकास और सुधार आयोग के महानिदेशक फांगकांग हुआंग और प्रमुख सचिव उद्योग-वाणिज्य मोहम्मद सुलेमान मौजूद थे। चीनी प्रतिनिधिमंडल से चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि देश में ‘एक कराधान व्यवस्था’ एक जुलाई से लागू हो जायेगी। नई व्यवस्था से देश की हृदय-स्थली मध्यप्रदेश के महत्वपूर्ण लॉजिस्टिक हब बनने की संभावनाएँ प्रबल हुई हैं। निवेश और व्यापार की और अधिक बेहतर संभावनाएँ निर्मित होगी। उन्होंने प्रतिनिधि-मंडल से इस परिप्रेक्ष्य में निवेश की संभावना को तलाशने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि प्रदेश निवेश का आदर्श स्थल है। यहाँ निवेश मित्र वातावरण और नीतियाँ हैं। आश्वस्त किया कि निवेश हेतु आवश्यक जानकारियाँ, सूचनाएँ उपलब्ध करवाने में, उन्हें पूरा सहयोग किया जायेगा। सरकार निवेशकों का सदैव सहयोग करती है, भविष्य में भी करेगी। मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधि-मंडल का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि चीन यात्रा में उनके द्वारा दिए गए आमंत्रण पर, चीनी प्रतिनिधि-मंडल के आने से वे अत्यंत हर्षित हैं। आशा व्यक्त की कि इस यात्रा से दुनिया के दो प्राचीन महान राष्ट्रों के मध्य पारस्परिक व्यापारिक संभावना को विस्तार मिलेगा। उनके मध्य निकटता बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि पीथमपुर में चीनी कंपनी लिउगोंग मशीनरी कंपनी लिमिटेड को सरकार का पूरा सहयोग मिला है। नये निवेशकों को भी उसी तरह पूरा सहयोग दिया जायेगा। प्रतिनिधि-मंडल द्वारा बताया गया कि प्रदेश में स्थापित औद्योगिक इकाई द्वारा स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध करवाया गया है। उत्पाद भारतीय बाजार के साथ ही अन्य देशों को निर्यात भी किये जा रहे हैं। प्रतिनिधि-मंडल में नैननिंग विकास और सुधार आयोग के निदेशक वी डिंग, गुआंग्शी विकास और सुधार आयोग के हाईटेक उद्योग प्रभाग निदेशक यी झोंग, विदेशी पूँजी उपयोग और विदेशी निवेश प्रभाग निदेशक तियानचेंग वू, औद्योगिक अर्थ-व्यवस्था प्रभाग निदेशक यीचुआन ली, पश्चिमी क्षेत्र विकास प्रभाग उप निदेशक सुयू तन, प्रबंध निदेशक लिउगोंग इंडिया वू सांग और ट्रायफेक के अपर प्रबंध संचालक वी. किरण गोपाल उपस्थित थे।s


मध्यप्रदेश में थम नहीं रही किसानों की आत्महत्या, फिर दो ने लगाई फांसी
Our Correspondent :29 Jun 2017
भोपाल। मध्यप्रदेश में किसानों की आत्महत्याओं के मामले थमने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। विभिन्न कारणों से किसान लगातार आत्महत्याएं करते जा रहे हैं। गुरुवार को सुबह फिर दो किसानों ने फांसी लगाकर अपनी जीवनलीला समाप्त कर ली। इनमें एक किसान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले सीहोर के गांव ईंटाखेड़ा का रहने वाला है, जबकि दूसरी घटना होशंगाबाद जिले के पिपरिया ब्लॉक के सांडिया ग्राम की है। मुख्यमंत्री के गृह जिले सीहोर के इछावर विकासखंड के ग्राम ईंटाखेड़ा के रहने वाले किसान मारिया आदिवासी (52) ने गुरुवार को सुबह खेत में जाकर पेड़ पर फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। परिवार के लोग जब खेत में पहुंचे, तो घटना की जानकारी लगी। उन्होंने पुलिस को घटना की जानकारी दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने मृतक के शव को पेड़ से उतारकर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल पहुंचाया, वहीं प्रकरण तर्ज मामले की जांच शुरू की। फिलहाल किसान ने आत्महत्या क्यों की, इसकी जानकारी नहीं लग पाई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। वहीं, दूसरी घटना होशंगाबाद जिले के पिपरिया ब्लॉक के ग्राम सांडिया की है। यहां के निवासी कृषक गुलाब सिंह ने गुरुवार को सुबह खेत में जाकर फांसी लगा ली। परिजनों की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और किसान का शव पेड़ से उतारकर पोस्टमार्टम के लिए होशंगाबाद जिला अस्पताल पहुंचाया। परिवार वालों ने बताया कि कृषक गुलाब सिंह के पास आठ एकड़ जमीन है और उन्होंने दो लाख रुपए का कर्जा ले रखा था। उन्होंने बताया कि बीते दो साल से लगातार फसलें खराब हो रही हैं, जिसके चलते वह कर्ज नहीं चुका पा रहा थे और इसी के चलते विगत कुछ दिनों से परेशान रहते थे। गुरुवार को उन्होंने यह आत्मघाती कदम उठा लिया। पुलिस ने प्रकरण दर्ज मामले की जांच शुरू की है। दोनों ही मामलों में पुलिस द्वारा पड़ताल की जा रही है।


दो दिन हो सकती पेट्रोल-डीजल की किल्लतं
Our Correspondent :28 Jun 2017
भोपाल। मध्‍यप्रदेश पेट्रोलियम एसोसिएशन द्वारा रोजाना बदलते पेट्रोल और डीजल के रेट के विरोध में बुधवार और गुरुवार को पेट्रोल एवं डीजल की मध्‍यप्रदेश में किल्लत हो सकती है। जानकारी के अनुसार पेट्रोल पंप संचालक पेट्रोलियम कंपनियों के डिपो से ईधन नहीं खरीदने का फैसला किया है। इस कारण प्रदेश के पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल और डीजल की भारी किल्लत हो सकती है। राजधानी भोपाल में बुधवार सुबह से ही पेट्रोल के किल्लत होने की आशंका का असर देखने को मिला। शहर के कई पेट्रोल पंपों पर वाहनों की लंबी-लंबी कतारें देखी गई। भोपाल के लगभग एक सैकड़ा से अधिक पेट्रोल पंप संचालक एक दिन तेल कंपनियां से पेट्रोल-डीजल नहीं खरीदेंगे। इसके साथ ही पंप संचालक व उनका स्टाफ काली पट्टी बांधकर ड्यूटी कर रहे हैं।


स्कूली वाहनों पर नहीं हो रही कार्रवाई, कोर्ट के आदेश की उड़ रहीं धज्जियां
Our Correspondent :27 Jun 2017
भोपाल/इंदौर। मध्य प्रदेश में आरटीओ स्कूली वाहनों पर कार्रवाई को लेकर उदासीन बना हुआ है। स्कूल शुरू हुए 10 दिन से अधिक हो गए और सड़कों पर लगभग 3 हजार वाहन दौड़ने लगे हैं जिनमें से बड़ी संख्या में ऐसे वाहन भी हैं जो बिना रजिस्ट्रेशन और फिटनेस के भी हैं। टाटा मैजिक, सिटी वैन और रिक्शा मनमाने तरीके से चलाए जा रहे हैं। कई जगह तो यह वाहन स्कूलों में अटैच हैं लेकिन स्कूल वाले भी नियमों को ताक पर रखे हुए हैं। राजधानी भोपाल, इंदौर समेत प्रदेश भर में स्कूली वाहनों की मनमानी जारी है। इंदौर शहर की सड़कों पर नए शिक्षा सत्र के बाद 3000 वाहन अतिरिक्त दौड़ने लगे हैं जिनमें स्कूली बस, वैन, मैजिक और रिक्शा सुबह से शाम तक हजारों बच्चों को स्कूल ले जाते और लाते हैं। इन वाहनों के फिटनेस, रजिस्ट्रेशन आदि को लेकर आरटीओ ने मुहिम नहीं शुरू की। इस विषय में जब आरटीओ एम.पी.सिंह से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा कि फिलहाल प्रशासन के आदेश पर प्याज खरीद के लिए गाड़ियों का अधिग्रहण कर रहे हैं। हमारे पास अमले की भी कमी है। स्कूली वाहनों के खिलाफ कार्रवाई के लिए फिलहाल समय नहीं मिल रहा है। इधर सुप्रीम कोर्ट के आदेश को भी स्कूली वाहन नहीं मान रहे हैं और क्षमता से अधिक बच्चे वाहनों में बिठा रहे हैं। वैन, मैजिक और रिक्शा बच्चों को ठूंस ठूंसकर बैठाते हैं। आरटीओ ने पिछले दिनों एक बार जरूर कार्रवाई की थी जब कुछ स्कूलों की गाड़ियां जब्त की गई थीं। उडऩदस्ता प्रभारी किशोरसिंह बघेल का कहना है कि हम जल्द ही मुहिम चलाएंगे। इसके लिए अलग-अलग टीमें गठित होंगी। हालांकि यह मुहिम कब से चलेगी, बघेल यह नहीं बता सके।


नवागत कलेक्टर खाड़े ने संभाला कार्यभार
Our Correspondent :23 Jun 2017
भोपाल। सीहोर जिले से ट्रांसफर होकर भोपाल आए कलेक्टर सुदाम पी. खाडे ने भोपाल कलेक्ट्रेट का कार्यभार संभाल लिया है। उन्होंने गुरुवार शाम को पदभार ग्रहण किया। इस दौरान एडीएम रत्नाकर झा एवं दिशा प्रणय नागवंशी सहित जिले के एसडीएम व अन्य अधिकारी एवं कर्मचारीगण उपस्थित थे। उल्लेखनीय है कि वर्ष 2006 बैच के आईएएस अधिकारी खाडे इससे पूर्व टीकमगढ़, हरदा व सीहोर जिलों के कलेक्टर रहे हैं। खाडे ने कार्यभार संभालने के तत्काल बाद जिले के अधिकारियों के साथ बैठक कर जिले में प्याज खरीद कार्य की प्रगति की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने सभी तहसीलदार और एसडीएम को निर्देश दिए कि वे अपने क्षेत्र के प्याज खरीद केन्द्रों का नियमित निरीक्षण करें तथा प्याज खरीद के दौरान किसानों को आने वाली समस्याओं को मौके पर निपटाएं। बैठक में बताया गया कि अब तक जिले में कुल 2844 किसानों से कुल 148067 क्विंटल प्याज खरीदी जा चुकी है जिसमें करोंद मंडी में स्थापित खरीद केन्द्र पर 1842 किसानों से अब तक कुल 81223.90 क्विंटल एवं बैरसिया केन्द्र पर 1002 किसानों से 66843.22 क्विंटल प्याज क्रय की गई है। भोपाल जिले से खरीदी गई प्याज का परिवहन मंडला व कटनी जिलों को किया जा रहा है। कलेक्टर वरबड़े ने इंदौर में संभाला कार्यभार राजधानी भोपाल से ट्रांसफर होने के बाद भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी निशांत वरबड़े ने गुरुवार शाम को इंदौर पहुंचे और उन्होंने इंदौर कलेक्टर का पदभार ग्रहण किया। कलेक्टर कार्यालय में उन्होंने पदभार ग्रहण करने के पश्चात प्रशासनिक तथा अन्य विभागों के अधिकारियों से परिचय प्राप्त किया। इस अवसर पर प्रभारी कलेक्टर शमीमुद्दीन सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।


योग एक ऐसा माध्यम है जो पूरी दुनिया को एक सूत्र में बांध सकता हैः शिवराज
Our Correspondent :21 Jun 2017
भोपाल। बुधवार को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर राज्य स्तरीय सामूहिक योग कार्यक्रम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की उपस्थिति में भोपाल के लाल परेड मैदान पर हुआ। इस दौरान सीएम ने लोगों को योग से जुड़ने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि योग से लोग निरोग रहते हैं इसलिए योग को अपने जीवन में शामिल करें। इस मौके पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि योग ही एक ऐसा माध्यम है जो पूरी दुनिया को एक सूत्र में बांध सकता है। लोगों को योग को जीवन में ठीक उसी तरह इस्तेमाल करना चाहिए जिस तरह नमक किया जाता है। इससे पहले जब सीएम योग स्थल पर पहुंचे थे तो छात्रों ने उन्हें घेर लिया। सीएम ने छात्रों संग सेल्फी और फोटोज क्लिक करवाए इसके बाद योग का कार्यक्रम शुरू किया गया। -जिला मुख्यालयों पर जिला स्तरीय योग कार्यक्रम मंत्री परिषद के सदस्यों की उपस्थिति में हुआ। इसके लिए मंत्री गणों को जिले आवंटित किए गए थे। ये सामूहिक योग कार्यक्रम स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा आयोजित किया जा गया है।
15 हजार साल पहले ऐसे शुरू हुआ योग.. 15 हजार साल पहले कुछ लोग ध्यान पर आधारित एक सभा में शामिल हुए। यह ध्यान लोगों को समझ नहीं आया और सिर्फ 7 लोग इस सभा में बचे। वे गुरु से मिले, तो उन्होंने सिर्फ इतना कहा- अभ्यास करो। 84 साल बाद संक्रांति के दिन जब सूर्य और पृथ्वी के संबंध बदलते हैं, दोनों अपनी स्थितियां बदलते हैं, उस दिन योगी भी अपने भीतर कुछ सुधार करते हैं। संक्रांति के दिन यह लोग चमकते हुए 7 पात्रों में बदल गए। यह 7 पात्र वे सात लोग ही थे, जो 84 सालों से योग कर रहे थे। इन 7 लोगों को आदियोगी कहा गया और दुनिया को पहला योग गुरु मिला। यह साल योग के पहले शिष्य बने, जिन्होंने अलग-अलग आसनों को बनाया। इन्हीं सात लोगों में से एक थे दक्षिण भारत योग के प्रसार के लिए गए अगस्त्य मुनि।


अरुण यादव व अजय सिंह सागर में करेंगे कलेक्ट्रेट का घेराव
Our Correspondent :19 Jun 2017
भोपाल। किसान आंदोलन के दौरान मंदसौर में पुलिस की गोली से हुई किसानों की मौत के मामले में कांग्रेस पार्टी द्वारा भोपाल, खलघाट (धार) के बाद सागर में किसानों की समस्याओं को लेकर सरकार को घेरेगी। इसके लिए पार्टी सोमवार को दोपहर बाद सागर जिले के पीलीकोठी मैदान में बुंदेलखंड के किसानों की समस्याओं को लेकर किसान आंदोलन करेगी। आंदोलन के बाद नेतागण एवं कांग्रेस पदाधिकारी कलेक्ट्रेट कार्यालय का घेराव भी करेंगे। प्रदेश कांग्रेस के संगठन प्रभारी महामंत्री चंद्रिका प्रसाद द्विवेदी ने बताया है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव एवं मप्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ‘राहुल भैया’ इस किसान आंदोलन में विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे। द्विवेदी ने यह भी बताया है कि सागर जिले में आयोजित इस किसान आंदोलन में बुंदेलखंड के अंतर्गत आने वाले 23 विधानसभा क्षेत्र के किसान, पार्टी के कई वरिष्ठ नेतागण-पदाधिकारी, कार्यकर्ता एवं नागरिक उपस्थित रहेंगे। द्विवेदी ने बताया कि सागर में आयोजित किसान आंदोलन एवं कलेक्ट्रेट कार्यालय के घेराव कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए यादव एवं सिंह सोमवार को सुबह 10 बजे भोपाल से सड़क मार्ग द्वारा सागर के लिए रवाना हो चुके हैं। वे दोपहर तक सागर पहुंचेंगे और आंदोलन में शिरकत करेंगे।


मानसून पड़ा सुस्त, प्रदेशवासियों को करना पड़ेगा इंतजार
Our Correspondent :15 Jun 2017
भोपाल। प्रदेशवासियों को बारिश के लिए थोड़ा और इंतजार करना पड़ सकता है। मौसम विभाग की मानें तो मानसून की रफ्तार धीमी हो गई है और बादल अब तक प्रदेश में नहीं पहुंचे हैं। सामान्यतया मानसून 14 जून तक प्रदेश में दस्तक दे देता है, लेकिन इस बार मानसून के सुस्त पड़ने से इसके एक सप्ताह देरी से यहां पहुंचने की संभावना है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि दक्षिणी-पश्चिमी मानसून की प्रगति सुस्त पड़ गई है। पिछले हफ्ते महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में प्रवेश करने वाले दक्षिणी-पश्चिमी मानसून ने रविवार को श्रीवर्धन, महाबालेश्वर के अलावा सतारा और सांगली के कुछ हिस्सों तक पहुंच गया। पिछले साल मानसून ने मुंबई को 20 जून को हिट किया था, जिसके कारण गुना जिले में 25 जून को ही मानसून ने दस्तक दर्ज कराई थी। माना जा रहा है, कि कोंकण तट पर मानसून ऐक्टिविटी में कमी आई है, जिसके चलते मानसून की झमाझम बारिश के लिए अभी और इंतजार करना पड़ेगा। हालांकि मौसम विभाग 24 घंटे में प्री-मानसून बरसात के बरसने की भविष्यवाणी कर रहा है। नीचे आने का नाम ही नहीं ले रहा पारा प्रदेश में कुछ जिलों बारिश होने के कारण दिन का तापमान गिरा है। वहीं गुना जिले में बारिश नहीं होने के कारण पारा ऊपर की ओर बढ़ रहा है। शहर में सुबह से ही तेज धूप खिली रही, जिसके कारण लोगों को चुभन भरी गर्मी का अहसास होता रहा। हालांकि दोपहर बाद हल्के-हल्के बादल घिर आए, जिससे तापमान अधिक नहीं बढ़ पाया। फिर भी बीते रोज की तुलना में तापमान 0.6 डिग्री सेल्सियस बढ़ गया। इस कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा।


सीएम शिवराज पहुंचे मंदसौर, मृतक किसानों के परिजनों से मिले
Our Correspondent :14 Jun 2017
मंदसौर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बुधवार को सुबह राजकीय विमान से मंदसौर पहुंचे। मुख्यमंत्री के मंदसौर आगमन पर हवाईपट्टी पर उनसे स्थानीय जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों ने भेंट की। इसके बाद श्री चौहान नवलखा हवाई पट्टी से कार द्वारा प्रात: 11.18 बजे जिले के ग्राम बड़वन के लिए रवाना हुए। इस मौके पर मंदसौर के लोकसभा सांसद सुधीर गुप्ता, मल्हारगढ़ विधायक जगदीश देवड़ा, मंदसौर विधायक यशपाल सिंह सिसौदिया, देवीलाल धाकड़, बंशीलाल गुर्जर, जिला केन्द्रीय सहकारी बैंक के अध्यक्ष मदनलाल राठौर, अन्य स्थानीय जनप्रतिनिधि, संभागायुक्त एमबी ओझा, एडीजी व्ही. मधुकुमार, डीआईजी रतलाम रेंज अविनाश शर्मा, कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव, पुलिस अधीक्षक मनोज सिंह मौजूद थे। पिपलिया मंडी ब्लॉक के गांव बड़वन पहुंचने पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विगत दिनों किसान आंदोलन के दौरान मृतक किसानों के परिजनों से मुलाकात की और उन्हें ढांढस बंधाया। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार किसानों के साथ है और उनकी हर संभव मदद की जाएगी। इसके बाद मुख्यमंत्री वहां से रवाना हो गए।


समर्थकों को थाना जलाने के लिए उकसाने वाली कांग्रेस विधायक शकुंतला पर केस
Our Correspondent :13 Jun 2017
शिवपुरी/भोपाल। कांग्रेस द्वारा आयोजित बंद के दौरान अपने समर्थकों को थाने में आग लगाने के लिए उकसाने वाली करैरा की कांग्रेस विधायक शकुंतला खटीक और कांग्रेस के मंडल अध्यक्ष के खिलाफ करैरा पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। पुलिस के मुताबिक प्रकरण दर्ज होने के बाद से विधायक शकुंतला खटीक और मंडल अध्यक्ष दोनों ही फरार हैं, जिनकी तलाश की जा रही है। मंदसौर गोलीकांड के विरोध में कांग्रेस ने 9 जून को प्रदेशव्यापी बंद का आह्वान किया था। इस दौरान करैरा विधायक शकुंतला खटीक और मंडल अध्यक्ष विनय गोयल अपने समर्थकों के साथ मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान का पुतला जला रहे थे। पुतले में लगी आग को बुझाने और कांग्रेस कार्यकर्ताओं को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने वहां खड़ी फायर ब्रिगेड से पानी की धार छोड़ दी, जिससे विधायक शकुंतला खटीक भीग गईं। इससे वह गुस्से में आग बबूला हो गईं और टीआई संजीव तिवारी को खरीखोटी सुनाई। उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से कहा कि थाने में आग लगा दो। विधायक द्वारा अपने समर्थकों को भड़काने का वीडियो भी सोशियल मीडिया पर वायरल हुआ था। इसी सिलसिले में करैरा पुलिस ने सोमवार रात विधायक शकुंतला खटीक और कांग्रेस मंडल अध्यक्ष विनय गोयल के खिलाफ सरकारी काम में बाधा डालने, भीड़ को उकसाने और अपशब्द बोलने जैसी धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। टीआई संजीव तिवारी का कहना है कि पुलिस विधायक शकुंतला खटीक एवं मंडल अध्यक्ष विनय गोयल को तलाश कर रही है। बौखला गए हैं मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान: करैरा विधायक और कांग्रेस मंडल अध्यक्ष के खिलाफ पुलिस द्वारा मामला दर्ज किए जाने के बारे में कांग्रेस प्रवक्ता जे.पी. धनोपिया का कहना है कि मंदसौर गोलीकांड को कांग्रेस ने जिस तरह से उठाया है, उससे मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान बौखला गए हैं। सरकार कांग्रेस कार्यकर्ताओं को धमकाने के लिए उनके खिलाफ मामले दर्ज कर रही है।


ढोल बजाते हुए CM के खिलाफ प्रदर्शन को निकली थी कांग्रेस, पुलिस ने रोका रास्ता
Our Correspondent :10 Jun 2017
भोपाल। मंदसौर, नीमच और शाजापुर के बाद किसान आंदोलन की आग राजधानी में भी सुलग रही है। एक तरफ किसानों को मनाने के लिए सीएम शिवराज सिंह चौहान अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठ गए हैं। वहीं, किसान संगठन और कांग्रेसियों ने सरकार के खिलाफ आंदोलन छेड़ दिया है। -शनिवार को राजधानी में ढोल बजाते हुए कांग्रेसियों ने प्रदेश सरकार और सीएम शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस दौरान कांग्रेसियों ने सरकार का पुतला दहन करने की भी कोशिश की, जिसे मौके पर तैनात पुलिसकर्मियों ने नाकाम कर दिया। -गुस्साएं कांग्रेसियों ने लिंक रोड पर लगे बैरिगेट्स पर चढ़कर सुरक्षा व्यवस्था बिगाड़ने की कोशिश की। लेकिन, पुलिस की सख्ती के कारण वे आगे नहीं बढ़ सके। -हाथों में 'सीएम शिवराज सिंह चौहान किसानों के हत्यारे है और मुख्यमंत्री मुर्दाबाद', की तख्तियां लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। -कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पीसीसी कार्यालय से लेकर लिंक रोड तक सीएम के खिलाफ प्रदर्शन किया। इस दौरान आंदोलन को उग्र होता देख पुलिस कर्मियों ने उन्हें लिंक रोड पर ही रोक लिया। -जेल भरो आंदोलन के साथ ही कांग्रेसियों एवं किसानों ने सीएम के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ, आम किसान यूनियन, भारतीय किसान यूनियन सहित अन्य संगठनों के नेता इसमें शामिल हुए। राज्य के हालात... -मंदसौर में फिलहाल हालात सामान्य बताए जा रहे हैं। उधर, गृह मंत्रालय ने सभी पड़ोसी राज्यों को अलर्ट किया। हिंसा ग्रस्त इलाकों में सुरक्षा के लिए रैपिड एक्शन फोर्स की कुल 13 कंपनियां तैनात की गई हैं। -राजगढ़ जिले में किसान आंदोलन के दौरान कुछ लोगों ने दो घंटे तक राजमार्ग पर चक्काजाम किया। -नरसिंहगढ़ पुलिस सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस विधायक गिरीश भंडारी के नेतृत्व में किसानों और कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जयपुर-जबलपुर हाईवे पर करीब दो घंटे चक्काजाम किया।


किसानों के हित में दाल की कीमत गिरने नहीं दी जाएगी: सीएम शिवराज
Our Correspondent :8 Jun 2017
भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को राजधानी भोपाल स्थित मंत्रालय में कृषि विभाग की भविष्य की कार्य-योजनाओं और तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने प्याज खरीदी की व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि किसानों से प्याज आठ रुपये प्रति किलो खरीदा जाएगा और पीडीएस की दुकानों में गरीब उपभोक्ताओं के लिये दो रूपये प्रतिकिलो की दर से उपलब्ध होगा। उपभोक्ताओं के लिये खरीदी की सीमा भी तय की जाएगी। उल्लेखनीय है कि एक सार्वजनिक वितरण दुकान में करीब चार सौ उपभोक्ता कवर होते हैं। तुअर खरीदने के संबंध में मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि प्रत्येक जिले में तुअर की उपलब्धता का आकलन करें। तुअर, मूंग और उड़द की खरीदी एक ही केंद्र से की जाएगी। अभी तक 80 खरीदी केंद्र बनाये जा चुके हैं। बैठक में बताया गया कि अनुमान के अनुसार 30 जून तक एक से डेढ लाख मीट्रिक टन तुअर खरीदी की जा सकेगी। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया है कि दाल का आयात नहीं होगा। इससे घरेलू बाजार में दाल की कीमत गिर जाएगी और किसानों को दाम नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि किसी भी कीमत पर दाल की कीमत गिरने नहीं दी जाएगी ताकि किसानों को उनकी उपज का पूरा दाम मिल सके। दाल में किसी प्रकार की कोई छूट नहीं दी जायेगी। श्री चौहान ने मूल्य स्थिरीकरण कोष तत्काल प्रभाव से स्थापित करने निर्देश दिये। उन्होने कृषि लागत एवं विपणन आयोग का संगठनात्मक ढांचा तैयार कर उसमें अध्यक्ष और सदस्यों की नियुक्तियां करने के भी निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि खरीफ की फसलों के लिये खरीद केन्द्रों का चयन और स्थान निर्धारण पहले से कर लें ताकि समर्थन मूल्य पर खरीदी में थोड़ा भी विलम्ब न हो। फसल बोने का परामर्श देने बनेगा एप मुख्यमंत्री ने किसानों के लिये मोबाइल आधारित एसएमएस या परामर्श देने की योजना बनाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि किसानों को प्रत्येक फसल के संबंध में जानकारी होना चाहिये कि कितने क्षेत्र और कितनी मात्रा में फसल बोना चाहिये ताकि बंपर आवक के बावजूद किसानों को उनकी उपज का दाम मिले। ज्यादा उत्पादन के कारण मूल्य की कमी से किसान प्रभावित नहीं हो पाये। इसके लिये उन्होंने किसानों के डाटा बेस पर आधारित एक एप बनाने के निर्देश दिये ताकि किसान स्वयं अपना विवरण आसानी से दर्ज कर सकें। उन्होंने फसलों के संभावित खरीददारों को भी इस एप से जोडऩे पर विचार करने के लिये कहा। श्री चौहान ने इस विषय से जुड़े विभिन्न बिन्दुओं पर विचार-विमर्श करने और रणनीति बनाने के लिये एक समिति बनाने के भी निर्देश दिये। डिफाल्टर किसानों के लिये घोषित एक मुश्त सेटलमेंट योजना के संबंध में श्री चौहान ने आगामी सोमवार तक पूरी योजना का प्रारूप प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि सबसे बड़ी प्राथमिकता यह है कि डिफाल्टर किसानों को क्रेडिट योजना का लाभ फिर से मिलने लगे। बैठक में मुख्य सचिव बी पी सिंह, अपर मुख्य सचिव ए.पी. श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री अशोक वर्णवाल, कृषि उत्पादन आयुक्त पी. सी. मीणा, सहकारिता, मंडी बोर्ड, मार्कफेड के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


बोट क्लब पर आतिशबाजी के दौरान झाड़ियों में लगी आग
Our Correspondent :2 Jun 2017
भोपाल। भोपाल में गुरुवार रात उस समय बड़ा हादसा टल गया जब बड़ी झील के किनारे आतिशबाजी के दौरान सूखी झाड़ियों में आग लग गई। सूचना पाकर फायर दल ने मौके पर पहुंच कर आग पर काबू पाया। गुरुवार शाम को बड़ी झील किनारे बोट क्लब पर भोपाल रियासत के भारत गणराज्य में शामिल होने की वर्षगांठ पर बोट क्लब में कार्यक्रम आयोजित किया गया था। रात करीब नौ बजे आतिशबाजी के दौरान सीएम हाउस से लगी पहाड़ी की झाड़ियों में आग लग गई। सूचना मिलने के बाद फायर ब्रिगेड की गाड़ी मौके पर पहुंच गई और आग पर काबू पाने की कोशिश की, लेकिन सूखी झाड़ी होने के कारण आग पर काबू नहीं पाया जा सका। इसके बाद तीन टैंकर और दो फायर ब्रिगेड और पहुंचे। करीब डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद रात करीब साढ़े दस बजे आग पर काबू पाया जा सका।


भारत स्वाभिमान और गौरव के 3 वर्ष पूर्ण होने पर समस्त भारतवासियों को बधाई

27 May 2017

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान और प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के तीन वर्ष का कार्यकाल पूर्ण होने पर प्रदेशवासियों और भारतवर्ष के लोगों को बधाई देते हुए कहा कि इस अवधि में भ्रष्टाचार मुक्त शासन, गरीबोन्मुखी, गतिशील पहल ने देश की सवा अरब जनता को गौरवान्वित किया है। उन्होंने कहा है कि इन 3 वर्षों में भारत के भाल पर स्वाभिमान लिखा गया है। विश्व के पटल पर भारत का सम्मान बढ़ा है। हम एक सशक्त, समृद्ध और समरस भारत की दिशा में तेजी से आगे बढ़े हैं। हमारा पूर्ण विश्वास है कि श्री नरेन्द्र मोदी जैसे नेता के नेतृत्व में यह भारत आने वाले समय में और तेजी से आगे बढ़ेगा तथा आने वाली सदी भारत की सदी होगी। भारत ही विश्व का नेतृत्व करेगा। ऐसे संकेतों को आज प्रत्येक भारतवासी गौरवान्वित होकर अनुभूत कर रहा है। श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पिछले 10 वर्षों की नीतिगत अस्त-व्यस्तता को समाप्त कर त्वरित साहसिक निर्णय लेकर प्रशासन की जड़ता को समाप्त किया है। इन वर्षों में भ्रष्टाचार का एक भी छींटा उनकी सरकार पर नहीं पड़ा। जबकि यूपीए सरकार के 10 वर्षों के कार्यकाल में भ्रष्टाचार और घोटाला जनचर्चा का विषय होने से जनता का सरकार पर से भरोसा समाप्त हो गया था। भ्रष्टाचार के केन्द्र बन चुके अड्ड़ों की सफाई की तथा योजना आयोग और विदेश निवेश प्रोत्साहन बोर्ड को समाप्त कर लाल फीताशाही से केन्द्र और राज्यों को मुक्त किया। कालाधन, जाली नोटों और भ्रष्टाचार की चर्चाएं पूर्ववर्ती सरकार में खूब हुई, लेकिन इन पर लगाम लगाने का साहस नहीं किया गया। श्री नरेन्द्र मोदी सरकार ने विमुद्रीकरण करके कालेधन की व्यवस्था को तहस-नहस करके कालेधन के सृजन अवसरों को ही समाप्त कर दिया। नोटबंदी से देश के कोष को लगभग 5 लाख करोड़ रू. का लाभ हुआ जो गरीबोन्मूलन की योजना में निवेश होगा। उन्होनें कहा कि आजादी के बाद देश की जनता ने पहली बार समावेशी विकास महसूस किया है। केन्द्र सरकार की योजनाओं का लाभ अल्पकाल में ही जन-जन, जरूरतमंद लोगों तक पहुंचा है। प्रधानमंत्री उज्जवला योजना, प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना, जन-धन योजना, आवास योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना, सुकन्या समृद्धि योजना, स्वच्छ भारत मिशन जैसी योजनाएं और इनीशिएटिव ने लाखों परिवारों के जीवन में उमंग पैदा कर दी है। जीवन स्तर बढ़ाया है और खुशहाली का द्वार खोला है। श्री नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि आधार कार्ड योजना को गंतव्य तक पहुंचाया और मनरेगा को कृषि के पूरक अंग के रूप में आगे बढ़ाया, जिससे सिंचन क्षमता में इजाफा हो रहा है। तीन वर्षों में श्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्र सरकार के आलोचकों को इस बात से बेहद हताशा हुई कि उन्हें मोदी सरकार के विरूद्ध न तो कोई खामी दिखी और न ही वे सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा सके। इससे समूचा विपक्ष आलोचना करते करते रपटीले मार्ग पर फिसल चुका है। मोदी सरकार ने जहां विकास दर को 7 प्रतिशत पर स्थायित्व दिया है, वहीं मंहगाई दर पर लगाम कस दी है। जनजीवन के हर क्षेत्र में श्री नरेन्द्र मोदी सरकार ने अपनी जनोन्मुखी छवि अंकित करने में सफलता पायी है। मोदी सरकार के तीन साल बेमिसाल साबित हुए है। श्री नरेन्द्र मोदी ने विश्व पटल पर अपनी विशेष पहचान बनाकर भारत का सम्मान बढ़ाया है। भारत को विश्व की चुनिंदा शक्तियों की कतार में खड़ा कर दिया है।

प्रदेश में 56 स्थानों पर मोदी फेस्ट के कार्यक्रम निर्धारित- विजेश लूनावत

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री विजेश लूनावत ने बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के कार्यकाल के तीन वर्षों में जनजीवन के हर क्षेत्र में सुखद परिवर्तन परिलक्षित हुआ है। मोदी फेस्ट के आयोजन का लक्ष्य जनता को बदलते भारत की छवि से अवगत कराना है। उन्होनें बताया कि इसी सिलसिले में रेलमंत्री श्री सुरेश प्रभु 9 जून को भोपाल पधारकर इंदौर पहुंचेंगे और मोदी फेस्ट के आयोजन में भाग लेंगे। केन्द्रीय सामाजिक न्याय मंत्री श्री थावरचंद गेहलोत 11 एवं 12 जून को प्रदेश में आयोजित कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे। केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर, श्री प्रकाश जावड़ेकर, केन्द्रीय राज्यमंत्री श्री फग्गनसिंह कुलस्ते, डॉ. संजीव वलियान 8 और 9 जून को पधारेंगे। केन्द्रीय मंत्री श्री राजीव प्रताप रूढ़ी भी मोदी फेस्ट में भाग लेंगे। विदेश राज्यमंत्री श्री एमजे अकबर 9 जून को इंदौर में रहेंगे। पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश प्रभारी डॉ. विनय सहस्रबुद्धे 13 और 14 जून को मध्यप्रदेश प्रवास पर रहेंगे। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री प्रभात झा, राष्ट्रीय महासचिव श्री कैलाश विजयवर्गीय एवं राष्ट्रीय सचिव श्रीमती ज्योति धुर्वे मोदी फेस्ट आयोजन में भाग लेंगी। प्रदेश के सभी 29 संसदीय क्षेत्रों में सांसद, विधायक, निर्वाचित प्रतिनिधि कार्यक्रमों का संयोजन करेंगे। जिला प्रभारी मंत्री भी इन कार्यक्रमों में सक्रिय भागीदारी करेंगे। श्री विजेश लूनावत ने बताया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री, मंत्रियों, प्रदेश पदाधिकारियों, सांसदों को अन्य प्रदेशों में आयोजन में भाग लेने की जिम्मेदारी सौंपी गयी है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान उड़ीसा में जनजाति बहुल क्षेत्रों में पहुंचेंगे। केन्द्रीय मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर प. बंगाल, श्री थावरचंद गेहलोत आंध्र प्रदेश, श्री फग्गनसिंह कुलस्ते झारखंड, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री प्रभात झा चंडीगढ़, राष्ट्रीय महासचिव श्री कैलाश विजयवर्गीय प. बंगाल, वरिष्ठ मंत्री श्री जयंत मलैया, डॉ. गौरीशंकर शेजवार, डाॅ. नरोत्तम मिश्र, श्रीमती अर्चना चिटनीस, श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया व श्रीमती माया सिंह कर्नाटक, श्री उमाशंकर गुप्ता, श्री जयभान सिंह पवैया, सांसद श्री मेघराज जैन तमिलनाडू, श्री प्रहलाद पटेल मणिपुर, श्री राकेश सिंह महाराष्ट्र और डॉ. सत्यनारायण जटिया हरियाणा पहुंचेंगे और मोदी फेस्ट के कार्यक्रमों में भाग लेंगे।

सभी जिला इकाईयों की महत्वपूर्ण बैठक 2 जून को

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महामंत्री श्री अजय प्रताप सिंह ने बताया कि 2 जून 2017 को सभी जिला इकाईयों की जिलों में महत्वपूर्ण बैठक होगी। बैठक में 2 जुलाई को प्रदेश में किये जाने वाले 6 करोड़ वृक्षारोपण के अभियान की सफलता के लिए तैयारियों पर विस्तार से चर्चा की जायेगी। इस महावृक्षारोपण अभियान में प्रदेश के 25 लाख जन भाग लेंगे। जिलेवार तैयारियों की चर्चा के बाद लक्ष्य की पूर्ति के उपायों पर चर्चा की जायेगी एवं संकल्प पत्र भी भराये जायेंगे। उन्होनें बताया कि प्रदेश में चल रहे कार्य विस्तार अभियान समयदानी कार्यकर्ताओं के प्रवास की प्रगति पर भी बैठक में चर्चा होगी। नर्मदा तट स्थित पावन ज्योर्तिलिंग आंेकारेश्वर में आदि शंकाराचार्य की भव्य धातु प्रतिमा की स्थापना के लिए लौह संग्रह पर भी चर्चा की जायेगी। हर जिले से प्रतिमा के लिए लोहा, लोहे की वस्तुओं का संग्रह किया जायेगा। श्री अजय प्रताप सिंह ने बताया कि निर्वाचन आयोग नवमतदाता के पंजीयन के लिए अभियान 1 जुलाई से आयोजित करने जा रहा है। लोकतंत्र की बुनियाद मतदाता ही है, इस दृष्टि से पार्टी का लक्ष्य होगा कि 18 वर्ष की आयु पूरी करने वाला कोई भी युवक निर्वाचन आयोग के इस अभियान के लाभ से वंचित न रहने पावे। 2 जून की बैठक की कार्यसूची में यह विषय भी प्रमुख होगा। 18 वर्ष पूर्ण करने वाले बच्चों का पंजीयन कराने में सहयोग किया जाना है।

प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चैहान 27 व 28 मई को ग्वालियर, भिंड, जबलपुर, सतना व छतरपुर के दौरे पर

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान 27 एवं 28 मई को दो दिवसीय दौरे पर ग्वालियर, भिंड, जबलपुर, सतना और छतरपुर जिले के प्रवास पर रहेंगे। आप 27 मई को प्रातः 7.40 बजे भोपाल से रेलमार्ग द्वारा ग्वालियर प्रस्थान करेंगे। दोपहर 1 बजे ग्वालियर जिला कार्यालय पहुंचेंगे। दोपहर 2.30 बजे ग्वालियर से सड़क मार्ग द्वारा भिंड रवाना होंगे। सायं 4 बजे भिंड में कार्यकर्ताओं से भेंट करेंगे। तत्पश्चात 4.30 बजे ग्राम परसाला में बूथ संपर्क कार्यक्रम में भाग लेंगे। सायं 5 बजे कार द्वारा मिहोना पहुंचकर चंबल गौरव यात्रा में शामिल होंगे। रात्रि 8 बजे भिंड से ग्वालियर प्रस्थान करेंगे। तत्पश्चात रात्रि 10.23 बजे रेलमार्ग से ग्वालियर से जबलपुर रवाना होंगे। श्री नंदकुमार सिंह चौहान 28 मई को प्रातः 8.20 बजे जबलपुर सर्किट हाउस पहुंचेंगे। प्रातः 9 बजे जार्ज डिसिल्वा वार्ड में बूथ संपर्क कार्यक्रम में शामिल होंगे। प्रातः 10 बजे बस स्टेंड के पास स्थित मानस भवन में राजपूत समाज के कार्यक्रम में सम्मिलित होंगे। दोपहर 12 बजे सड़क मार्ग द्वारा जबलपुर से नागौद (जिला-सतना) रवाना होंगे। सायं 4 बजे सांसद निवास, श्याम भवन पहुचेंगे। सायं 5 बजे नागौद में महाराणा प्रताप जयंती पर आयोजित मंचीय कार्यक्रम में शामिल होंगे। तत्पश्चात 6 बजे नागौद से छतरपुर प्रस्थान करेंगे। आप रात्रि 8.30 बजे महाराजा छत्रसाल उत्सव समिति, महू सहानिया पहुंचकर स्थानीय कार्यक्रम में भाग लेंगे।

सबका साथ-सबका विकास सम्मेलन‘मोदी-फेस्ट’ का प्रमुख आकर्षण होगा- डॉ. विजयवर्गीय

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के मुख्य प्रदेश प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय ने बताया कि 26 मई से आरंभ हुए ‘मोदी-फेस्ट’ (मेकिंग ऑफ़ डेव्हलपड् इंडिया) के दौरान आयोजित हो रहे ‘सबका साथ-सबका विकास’ सम्मेलन जन आकर्षण का केन्द्र होंगे। भारत सरकार के सूचना और प्रसारण मंत्रालय द्वारा राज्यों की राजधानियों में और 300 मुख्य जिलों में कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। इसी क्रम में जिला मुख्यालयों पर प्रगति का दिग्दर्शन करने के लिए प्रदर्शनियां लगाई जा रही है। तीन दिवसीय प्रदर्शनियां क्रमवार 100-100 जिलों में लगेंगी। इस मौके पर विषय विशेषज्ञों द्वारा मार्गदर्शन देने के लिए विशेष सत्र आयोजित किये जायेंगे। उन्होनें बताया कि मोदी फेस्ट आयोजन का मुख्य उद्देश्य मोदी सरकार की जनोन्मुखी योजनाओं को लोकप्रिय बनाना, योजनाओं से लाभांवित परिवारों से सुखद परिवर्तन की जानकारी अन्यों तक पहुंचाना और विकास के बढ़ते चरण में जनसहयोग समर्थन हासिल करना है। आजादी के बाद पहली बार देश की जनता ने ऐसा समावेशी विकास महसूस किया है। केन्द्र सरकार की योजनाओं का लाभ अल्पकाल में ही जन-जन, जरूरतमंद लोगों तक पहुंचा है। अन्य सभी विकासोन्मुखी योजनाओं के साथ प्रधानमंत्री उज्जवला योजना, प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना, जन-धन योजना, आवास योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना, सुकन्या समृद्धि योजना, स्वच्छ भारत मिशन जैसी योजनाएं और इनीशिएटिव ने लाखों परिवारों के जीवन में उमंग पैदा कर दी है। जीवन स्तर बढ़ाया है और जनता की खुशहाली का द्वार खोला है। डॉ. दीपक विजयवर्गीय ने बताया कि सबका साथ-सबका विकास सम्मेलनों की 30 जून तक देश के सभी राज्यों, मध्यप्रदेश के 51 जिलों में धूम रहेगी। इसका उद्देश्य जनता को बताना है कि जनोन्मुखी योजनाओं और इनीशिएटिव किस तरह जनजीवन में सुखद परिवर्तन लाने में सहायक सिद्ध हुए है। जरूरतमंद परिवार कैसे लाभांवित हुए है और सरकारी प्रयास जनता की, एनजीओ की पहल किस तरह मददगार बनती है।


नर्मदा अभियानः अब सरकार बेचेगी रेत, मुनाफा मजदूरों में बांटा जाएगा
Our Correspondent :24 May 2017
भोपाल। आंख बंद करके किसी को नर्मदा से रेत नहीं निकालने दी जाएगी। क्योंकि नर्मदा केवल नदी बचाने का ही नहीं दुनिया बचाने का अभियान है। यह बात बुधवार को सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित वृक्षारोपण की वेबसाइट के लोकार्पण के दौरान कही।
सरकार बेचेगी रेत
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सरकार माइनिंग कॉरपोरेशन के जरिए रेत बेचेगी, ताकि कीमतें नियंत्रण में रहे। रेत बेचने से सरकार को जो भी मुनाफा होगा वो मजदूरों में बोनस के रूप में बांटा जाएगा।इसके साथ ही नदियों से हाथों से रेत निकाली जाएगी इससे मजदूरों को भी काम मिलेगा। नदी संरक्षण के लिए जो समिति बनाई गई है उसकी दिशा निर्देश के अनुसार ही रेत निकाली जाएगी। ताकि, नर्मदा के अलावा बाकी नदियों के भी जीव-जंतु सुरक्षित रहे। -कार्यक्रम में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि, यह अभियान दुनिया का सबसे बड़ा अभियान बनेगा। यह नर्मदा को बचाने का अभियान है, जिससे देखते ही देखते सैकड़ों-हजारों लोग जुड़ गए है। नर्मदा को बचाने के लिए मेरा ये अभियान जारी रहेगा। मैं चाहता हूं कि इस वेबसाइट के जरिए लोग इस महाअभियान से जुड़े।
-नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान सीएम शिवराज सिंह चौहान द्वारा की गई घोषणा के अनुपालन में प्रदेश में 2 जुलाई को वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। इसके अंतर्गत नर्मदा बेसिन के जिलों में 6 करोड़ पौधे रोपे जाएंगे। आम लोगों की भागीदारी से होने वाले पौध-रोपण कार्यक्रम में पंजीयन के लिए सीएम ने बुधवार को मुख्यमंत्री निवास पर वेबसाइट का लोकार्पण किया।
-जन-अभियान परिषद द्वारा तैयार की गई वेबसाइट पर 2 जुलाई को पौध-रोपण करने के इच्छुक लोग पंजीयन करवा सकेंगे। इस दिन नर्मदा के दोनों तटों और कछार क्षेत्र में फलदार-छायादार पौधों का रोपण किया जाएगा। कार्यक्रम में सीएम शिवराज सिंह के साथ ही पत्नी साधना सिंह एवं वन मंत्री गौरी शंकर शेजवार भी मौजूद रहे।


मालिक के ATM से रुपए ट्रांसफर कर बुक किया था मनाली ट्रिप, पुलिस ने किया गिरफ्तार
Our Correspondent :24 May 2017
सायबर पुलिस ने दो ऐसे आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जिन्होंने अपने मालिक के मोबाइल एवं एटीएम कार्ड की जानकारी के माध्यम से 62 हजार रुपए की धोखाधड़ी की थी। इस वारदात को बाप-बेटे ने मिलकर अंजाम दिया गया था।
-साइबर पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार बेटे ने ठगे गए पैसे अपने पिता के अकाउंट में ट्रांसफर कर दिए थे। इतनी ही नहीं आरोपी बेटे ने इन पैसों से मेक माय ट्रिप से मनाली का लग्जरी पैकेज बुक कराया था। फरियादी रामकृष्ण अग्रवाल निवासी इंदिरा नगर रीवा ने साइबर पुलिस से शिकायत की थी कि उनके स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के बचत खाते में 73 हजार 336 रुपए थे। इसमें से किसी व्यक्ति ने 62 हजार 366 रुपए निकाल लिए है। -शिकायत के बाद पुलिस जांच मे जुट गई। जांच में सामने आया कि खाते से निकले गए पैसों से मेक माय ट्रिप कंपनी से मनाली का हॉलिडे पैकेज बुक कराया गया था। पुलिस ने मेक माय ट्रिप से संपर्क कर राशि को फरियादी रामकृष्ण अग्रवाल के अकाउंट में वापस ट्रांसफर करवाए। प्रकरण में एकत्रित साक्ष्यों के आधार पर पाया गया कि सूरज सिंह राठौर निवासी रतलाम ने ऑनलाइन ट्रांजेक्शन किया गया था। इस आधार पर आरोपी सूरज राठौर को गिरफ्तार किया गया। आरोपी सूरज, फरियादी रामकृष्ण का विश्वसनीय नौकर था। आरोपी सूरज ने पूछताछ में बताया कि एक दिन रामकृष्ण अपना मोबाइल फोन घर पर छोड़कर बाहर गए हुए थे। इसी दौरान उसने अल्मा री में रखे एटीएम से पैसों को उसके पिता पूरन सिंह राठौर के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया था। इसके बाद उसने मेक माय ट्रिप के जरिए पैकेज बुक किया था।


गर्मी का असर: कलेक्टर ने दिए आदेश-1-8 तक की छुट्टी, 9-12वीं तक की क्लास 11 बजे तक
Our Correspondent :18 April 2017
भोपाल: राजधानी सहित राज्य के अन्य हिस्सों में मंगलवार की सुबह से ही लू का असर बना रहा। मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटों में राज्य का तापमान बढ़ने और लू का असर बने रहने की संभावना जताई है। मौसम के तीखे तेवर देखते हुए कलेक्टर निशांत वरवड़े ने कक्षा पहली से आठवीं तक के बच्चों की छुट्टियां घोषित कर दी हैं। इसके साथ ही कक्षा 9वीं से 12वीं तक के बच्चों की कक्षाएं सुबह 11 बजे तक ही लगाने के आदेश दिए हैं।
स्कूलों की छुट्टी
मौसम केंद्र से मिली रिपोर्ट के आधार पर कलेक्टर निशांत वरवड़े ने कक्षा पहली से आठवीं तक के बच्चों की छुट्टियां एवं कक्षा 9वीं से 12वीं तक के बच्चों की कक्षाएं सुबह 11 बजे तक ही लगाने के आदेश दिए हैं।
कलेक्टर के आदेशानुसार जिन स्कूलों में परीक्षाएं चल रही हैं, वे भी सुबह 11बजे तक परीक्षा समाप्त करवा दें एवं बच्चों को तेज धूप होने से पहले घर के लिए रवाना कर दें।
कलेक्टर वरवड़े ने बताया कि स्कूलों में छुट्टियां घोषित किए जाने के अधिकार प्रशासन ने कलेक्टर्स से ले लिए थे। इसीलिए इस संबंध में शासन के अफसरों से बात करके ही यह निर्णय लिया गया है।
मौसम पर एक नजर
-मप्र में राजस्थान में बढ़ी गर्मी का असर साफ नजर आ रहा है। वहां से आ रही हवाओं ने यहां के तापमान में इजाफा किया गया है। मंगलवार को आसमान साफ होने के साथ झुलसा देने वाली तेज धूप खिली रही। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आगामी 24 घंटों में लू का असर कम नहीं होने वाला।
-राज्य में अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 20 डिग्री सेल्सियस से ऊपर बना हुआ है। मंगलवार को भोपाल का न्यूनतम तापमान 25.9 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 23 डिग्री, ग्वालियर का 24.9 डिग्री और
जबलपुर का न्यूनतम तापमान 25 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
-सोमवार को भोपाल का अधिकतम तापमान 42.7 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 41.6 डिग्री सेल्सियस, ग्वालियर का 44.4 डिग्री सेल्सियस और जबलपुर का अधिकतम तापमान 42.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।
ये है वजह
मौसम केंद्र के डायरेक्टर डॉ. अनुपम काश्यपि ने बताया कि हवा का रुख पश्चिमी है। इसमें नमी बिलकुल नहीं है। महाराष्ट्र और मप्र के दक्षिणी हिस्से में एक सिस्टम बना हुआ है। इस वजह से तापमान बढ़ा है।
प्रदेश के 35 फीसदी हिस्से लू की चपेट में, ग्वालियर सबसे ज्यादा तपा
प्रदेश के होशंगाबाद, दमोह, ग्वालियर समेत 35 फीसदी हिस्से लू की चपेट में हैं। ग्वालियर सबसे ज्यादा गर्म रहा। वहां पारा 45 डिग्री पर पहुंच गया। होशंगाबाद और दमोह में तापमान 44 डिग्री दर्ज किया गया।


CM ने किया अलर्ट, हिंदी को लेकर कुंठित मानसिकता बदलें, अंग्रेजी गुलामी का प्रतीक
Our Correspondent :18 April 2017
भोपाल: बसंती और केसरिया रंग की पगड़ी और सफेद कुर्ते-पजामे में छात्र, जबकि लाल बॉर्डर वाली साड़ी में छात्राएं! भारतीय संस्कृति की परंपरा के अनुरूप 'अटल बिहारी वाजयपेयी हिंदी विश्वविद्यालय' का दीक्षांत समारोह पहनावे की वजह से भी आकर्षण के केंद्र रहा। 126 स्टूडेंट्स को मिलीं उपाधि
-मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हिन्दी के प्रति कुंठित मानसिकता को बदलने की जरूरत बताई है। उन्होंने आव्हान किया है कि अंग्रेजी का ज्ञान श्रेष्ठता का प्रतीक है, इस गुलाम मानसिकता को समाप्त किया जाए। हिन्दी में काम करने पर गर्व की अनुभूति हो, ऐसा वातावरण बनाएं।
-मुख्यमंत्री ने कहा कि निज भाषा सब उन्नतियों का मूल है। हिन्दी के उदभव विद्वान के नाम पर देश का प्रथम हिन्दी विश्वविद्यालय प्रदेश की धरती पर है। यह गर्व का विषय है।
-उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय की सभी जरूरत को पूरा किया जाएगा। कठिनाइयों को दूर करने में कोई कोर-कसर बाकी नहीं रहेगी। हिन्दी विश्वविद्यालय से चिकित्सा, अभियांत्रिकी आदि विश्वविद्यालयों को सम्बद्ध करवाने के प्रयास भी किए जाएंगे।
-उन्होंने देश-प्रदेश के विद्वानों से हिन्दी विश्वविद्यालय को सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालय की श्रेणी में खड़ा करने के लिए मार्गदर्शन और सहयोग का अनुरोध किया।विश्वविद्यालय की उपलब्धियों के लिए कुलपति और उनकी टीम को बधाई दी।
-चौहान ने कहा कि भारतीय ज्ञान, परम्परा, विज्ञान अदभुत है। जब विश्व के आधुनिक राष्ट्रों में सभ्यता के सूर्य का उदय नहीं हुआ था। उनके निवासी पत्तों-पेड़ों की छाल से तन ढँकते थे, तब-भारत के ऋषि-मुनि वेदों की ऋचाओं की रचना कर रहे थे। नालंदा और तक्षशिला जैसे विश्वविद्यालय थे, जहां सारी दुनिया के मनीषी अध्यययन के लिए आते थे।
-उन्होंने कहा कि भौतिकता की अग्नि से पीड़ित समाज को शांति का पथ प्रदर्शन भारतीय ज्ञानदर्शन से ही होगा, जो प्राणियों में सदभावना और देश के नहीं विश्व के कल्याण की कामना करता है। विश्व को परिवार मानने और मत पंथ के अलग-अलग मार्ग एक ही स्थान पर पहुँचते, इसका दिग्दर्शन करवाता है।
-उन्होंने कहा कि संसाधनों की कमी प्रतिभा की उन्नति में बाधक नहीं हो। सरकार ने इसके लिए मुख्यमंत्री मेधावी छात्र प्रोत्साहन योजना लागू की है। इस योजना में चिकित्सा, अभियांत्रिकी, विज्ञान, कला, विधि आदि संकायों की उच्च शिक्षा में विद्यार्थियों की फीस राज्य सरकार द्वारा भरे जाने की व्यवस्था है।
-मुख्यमंत्री ने कहा कि योजना में बिना जात-पांत, धर्म-सम्प्रदाय के भेदभाव के सभी बच्चों को लाभान्वित किया जाएगा। उन्होंने छात्रों को भावी जीवन की शुभकामनाएं दी। छात्र-छात्राओं से विश्वविद्यालय से अर्जित ज्ञान और संस्कारों का उपयोग स्वयं के साथ ही समाज के कल्याण में करने की अपेक्षा की।
उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया ने कहा
भारतीय परिधान में सभी के चेहरों पर तेज नजर आ रहा है जो कि अंग्रेजों के पहनावे में नजर नहीं आता। यह भारत का दुर्भाग्य है कि जो स्वाभाविक तौर पर होना चाहिए उसके लिए प्रयास करने पड़ते हैं।
-पवैया ने कहा कि, 31 दिसंबर की रात नया साल मनाने पटाखे चलाए जाते हैं, लेकिन गुड़ी पड़वा मनाने के लिए अपने ही देश में अभियान चलना होता है।
-पवैया ने कहा कि वकील काला कोट पहनकर सफेद न्याय दिलाने की कोशिश करते हैं, लेकिन कोई जब पूछता है कि वे काला कोट क्यूं पहनते हैं, तो जवाब होता है कि पहले से यही चलता आ रहा है। अंग्रेजों के समय से चली आ रही कई चीजें अभी तक नहीं बदली हैं।
-पवैया ने कहा कि इसी तरह हवाई जहाज पर वीटी लिखा होता है। एक बार एयरपोर्ट पर एक अधिकारी से पूछा इसका मतलब क्या होता है? तो उसका जवाब था, विक्टोरियन टेरेटरी। भारत को आजाद हुए इतने साल हो चुके हैं, लेकिन कोई ने इस बात की तरफ ध्यान नहीं दिया, मैंने जिम्मेदार मंत्रालय को यह लिखा है कि वीटी को हटाया जाए।
समारोह के बारे में
-दीक्षांत समारोह में स्वामी गोविंद देव गिरी को भारतीय ज्ञान परम्परा के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए मानद उपाधि प्रदान की गई। वर्ष 2015-16 की परीक्षाओं में सर्वाधिक अंक प्राप्तकर्ता छात्रा स्वेच्छा मिश्रा को अटल बिहारी वाजपेयी स्वर्ण पदक से पुरस्कृत किया गया। विश्वविद्यालय की स्मारिका, पत्रिका और भारतीय ब्रह्माण्ड विज्ञान, भारतीय ज्ञान परम्परा पुस्तकों और वृत्त चित्र की सीडी का विमोचन किया गया।
-समारोह में अतिथियों ने वैदिक मंत्रोच्चार के उदधोष के मध्य शोभा यात्रा के रूप में प्रवेश किया। मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण किया।
-अतिथियों का पुष्प-गुच्छ, शॉल, श्रीफल और स्मृति-चिन्ह भेंट कर स्वागत किया गया। कुलपति एमएल छीपा ने विश्वविद्यालय का प्रतिवेदन प्रस्तुत किया।
-हरीश वर्मा ने विश्वविद्यालय के कुल गीत, मध्यप्रदेश गान और सरस्वती वंदना की प्रस्तुतियां दी। -दीक्षान्त समारोह में राजनीतिक, आध्यात्मिक, अकादमिक जगत की विभूतियों के साथ विश्वविद्यालय की साधारण सभा, विद्यार्थी परिषद के सदस्य, विभिन्न संकायों के अधिष्ठाता, व्याख्याता और छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।
-इस अवसर पर सारस्वत अतिथि विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरण शर्मा, स्वामी गोविंद देव गिरी भी उपस्थित थे।


डीआईजी ने जताया खेद, कहा-कमैरा टूटने की भरपाई करेंगे, माफी मंगवाएंगे
Our Correspondent :31 March 2017
भोपाल: अयोध्या नगर थाने में दो दिन पहले मीडियाकर्मियों से बदसलूकी मामले में राजधानी के पत्रकारों ने बड़ी संख्या में ज्योति टॉकीज चौराहे से एसपी साउथ के ऑफिस तक शांतिपूर्वक मार्च निकालकर विरोध जताया। काले कपड़े पहनकर पत्रकारों ने डीआईजी रमन सिंह सिकरवार को तीन सूत्रीय मांगों को लेकर एक ज्ञापन सौंपा। डीआईजी ने घटना पर खेत जताते हुए प्रशिक्षु आईपीएस धर्मराज मीणा की जगह खुद माफी मांगी।
डीआईजी ने धर्मराज के माफी मांगने और फोटोग्राफर निर्मल व्यास के कैमरा टूटने की भरपाई करवाने की मांग मान ली, जबकि तीसरी मांग अपने स्तर पर पूरी करने में असमर्थता जताते हुए प्रशासन और पुलिस मुख्यालय तक बात पहुंचाने का आश्वासन दिया। इस प्रदर्शन में पत्रकारों के साथ राजनैतिक दलों के प्रतिनिधि भी शामिल हुए ।
गौरतलब है कि अयोध्या थाना क्षेत्र सागर एवेन्यू निवासी कमलेश शर्मा को घर में बंधक बनाकर 28 मार्च की दोपहर अज्ञात बदमाश तीन लाख का माल लूट ले गए थे। देर शाम 'नवदुनिया' के फोटोग्राफर निर्मल व्यास व रिपोर्टर बृजेंद्र ऋ षीश्वर अयोध्या नगर थाने जानकारी लेने पहुंचे। इस दौरान पत्रकार अर्पण खरे, सुदीप्त मिश्रा और फोटोग्राफर सुधीर वर्मा मौजूद थे। उसी दिन अयोध्या नगर थाना प्रभारी बनाए गए प्रशिक्षु आईपीएस धर्मराज मीणा पत्रकारों को देखकर भड़क गए थे। सवालों के जवाब से बचते हुए उन्होंने मीडियाकर्मियों को थाने से बाहर कर दिया था। हालांकि, कुछ देर बाद उन्होंने खुद ही मीडियाकर्मियों को अंदर बुला लिया।
बातचीत के दौरान गुस्साए धर्मराज ने निर्मल व्यास का कैमरा छीनकर जमीन पर पटक दिया। घटना के 3 दिन बाद भी धर्मराज पर किसी भी तरह की कार्रवाई न होने के विरोध में गुरुवार शाम पांच बजे बड़ी संख्या में युवा और वरिष्ठ पत्रकार ज्योति टॉकीज चौराहे पर एकत्रित हुए। वहां से पत्रकारों ने करीब एक किमी पैदल मार्च निकाला, जो एसपी साउथ के आफिस तक पहुंचा। वहां डीआईजी सिकरवार को नवदुनिया के पांच सदस्यीय दल ने ज्ञापन देकर तीन सूत्रीय मांगें रखीं। इस पर डीआईजी ने उचित कार्रवाई करने का भरोसा दिलाया।
इसलिए निकालना पड़ा मार्च
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के कार्रवाई करने के भरोसा देने के दो दिन बाद भी विवादों में घिरे धर्मराज पर कार्रवाई नहीं होने से पत्रकारों में नाराजगी थी। नवदुनिया समेत सभी समाचार पत्रों के पत्रकार और फोटोग्राफर्स ने सामूहिक रूप से काली शर्ट और पट्टी बांधकर शांतिपूर्वक मार्च निकला। यह मार्च ज्योति टॉकीज से बोर्ड आफिस, डीबी मॉल होते हुए एसपी साउथ सिद्घार्थ बहुगुणा के कार्यालय पहुंची।
मीडियाकर्मियों से खेद जताया
पुलिस कर्मियों द्वारा मीडियाकर्मियों के साथ पूर्व व वर्तमान में की गई दुर्व्यवहार की घटनाओं को लेकर डीआईजी सिकरवार ने खेद जताया। इस प्रदर्शन में नवदुनिया के स्थानीय संपादक सुनील शुक्ला, समाचार संपादक संदीप चंसोरिया, ब्यूरो हैड धनंजय प्रताप सिंह, सहायक समाचार संपादक भोजराज उच्चसरे, चीफ रिपोर्टर कुलदीप सिंगोरिया,वरिष्ठ पत्रकार सुधीर निगम, कर्मचारी नेता अनिल वाजपेयी, समाजसेवी उमाशंकर तिवारी सहित सैकड़ों की संख्या में पत्रकार शामिल हुए। इसके अलावा कांग्रेस के पूर्व प्रवक्ता आरिफ मसूद, आप पार्टी के अमित भटनागर, दुष्यंत त्यागी सहित काफी संख्या में कार्यकर्ता भी मौजूद थे।


भोपाल पैसेंजर में टाइमर सेट कर 11 मिनट में उतर गया था आतंकी
Our Correspondent :31 March 2017
इंदौर/भोपाल: शाजापुर के पास जबड़ी में भोपाल-उज्जैन पैसेंजर में 7 मार्च को हुए ब्लास्ट में NIA को भोपाल स्टेशन के CCTV फुटेज से आईएस आतंकी दानिश और उसके साथियों के बारे में पुख्ता सबूत मिल गए हैं। यही नहीं, बम रखने के पहले और बाद में उसके आईएसआईएस संदिग्ध सैफुदुल्लाह से बातचीत के सबूत भी मिले हैं। सैफुदुल्लाह लखनऊ में हुए एनकाउंटर में मारा गया था।
- NIA ने यह खुलासा पिछले हफ्ते भोपाल की स्पेशल कोर्ट को सौंपी रिपोर्ट में किया है। ताजा मिली CCTV फुटेज में नीली शर्ट पहने दानिश ट्रेन में अटैची और बैग के साथ जाता और करीब 11 मिनट बाद सिर्फ बैग टांगे उतरते हुए दिख रहा है।
- 7 मार्च मंगलवार सुबह भोपाल से 70 किमी दूर कालापीपल में जबड़ी स्टेशन के पास भोपाल-उज्जैन पैसेंजर (59320) ट्रेन में ब्लास्ट हुआ था।
- इस IED ब्लास्ट में 10 लोग जख्मी हुए थे। ब्लास्ट से जनरल कोच में छेद हो गया था। धमाके से ठीक पहले चार लड़के चलती ट्रेन से कूदे थे और दो मिनट बाद ब्लास्ट हो गया।
ब्लास्ट के कुछ घंटे बाद ही हुई थी संदिग्ध आतंकियों की गिरफ्तारी
- ब्लास्ट होने के बाद 7 मार्च को ही मध्य प्रदेश की पिपरिया पुलिस ने तीन सस्पेक्ट को हिरासत में लिया था। ये तीनों भोपाल के नादरा बस स्टैंड से सवार हुए थे।
- संदिग्धों के पास से पुलिस ने दो बैग भी बरामद किए थे, जिसमें संदिग्ध सामान होने की खबर मिली थी।
- इन सभी संदिग्धों से संदिग्ध पूछताछ हुई। इनसे लखनऊ एनकाउंटर समेत तीन वारदातों की जानकारी मिली।
- बाद में यूपी के कानपुर और इटावा में गिरफ्तारियां हुई थीं। साथ ही, देर रात तक लखनऊ में एक संदिग्ध आतंकी सैफुदुल्लाह को एनकाउंटर में मार गिराया गया था।
- मामले पर यूपी के डीजीपी जावीद अहमद ने बताया कि दानिश मॉड्यूल का सरगना है। 14 से 15 लोगाें का मॉड्यूल है। जिस सूटकेस मे विस्फोट हुआ, वह भोपाल में रखा गया था।


कमाई करने में पूरी ऊर्जा लगाएं, किसी को पालने में लुटा भी दें
Our Correspondent :29 March 2017
भोपाल: मानस मर्मज्ञ श्रद्धेय मोरारी बापू ने 12 साल बाद एक बार फिर मंगलवार को अपने मुखारबिंद से लोगों को रामकथा का रसपान कराया। उन्होंने लोगों को जीवन जीने की कला के सूत्र भी बताए। बापू ने कहा कि कमाई करने में पूरी ऊर्जा लगा दें। इसमें कोई बुराई नहीं है,लेकिन दूसरों का पालन करने में दो नहीं चार हाथों से बांटें भी। यह परम पालनहार भगवान विष्णु का एक लक्षण है। इसलिए उनके चार हाथ हैं।
लाल परेड स्थित मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में शुरू हुई रामकथा के पहले बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। व्यास पीठ पूजन और हनुमान चालीसा के पाठ के साथ राम कथा की शुरूआत हुई। संतश्री ने कहा कि नवरात्र के सभी दिन पावन होते हैं, परंतु इसका पहला दिन बहुत महत्वपूर्ण है। इसी दिन सृष्टि और विक्रम नव संवत्सर का शुभारंभ हुआ। यह सौभाग्य की बात है कि राजधानी में इस पुनीत अवसर पर राम कथा प्रारंभ हो रही है।
संतश्री ने अपनी कथा का केंद्र बिंदू भी भगवान विष्णु को बनाया। उन्होंने कहा कि ब्रह्मा के अवतारों का उल्लेख नहीं है। शिव अजन्मा हैं। भगवान विष्णु ही हैं जिन्होंने राम-कृष्ण के रूप में अवतार लिए। वे पालनहार हैं। उनका दूसरा नाम वैष्णव भी है। वैष्णव का ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य या शूद्र आदि वर्ण नहीं है। वैष्णव का अर्थ व्यापकता है, वह भी आकाश जैसा। गुरू ऐसा होता है कि उसके लिए स्वर्ग भी छोटा पड़ता है और वह शून्य में समा भी जाता है। गुरु की महिमा बताते हुए बापू ने कहा कि जीवन में गुरू का होना जरूरी है,जो हमारे भीतर ज्ञान का दीप जला सके।
कथा है प्रेम यज्ञ
संतश्री बाबू ने कहा कि रामकथा का यह आयोजन प्रेम यज्ञ है। इसमें आप सब की भक्ति, आस्था और श्रद्धा से परिपूर्ण आहुतियां पड़ेंगी। कथा एक प्रयोग है। इसके श्रवण से जीवन को संवारा जा सकता है। अंत में बापू ने संगीतमय हरिनाम संकीर्तन भी कराया। शुरूआत में मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दीप प्रज्वलित कर कथा का शुभारंभ कराया। उन्होंने कहा कि आत्मा को दीपक बनाकर राह को प्रकाशमान बनाने की साधना गुरू से ही सीखी जा सकती है। इस अवसर पर कई राजनेता,वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी भी मौजूद थे।
बुधवार से 5 अप्रैल समापन दिवस तक कथा अब रोज सुबह 9.30 से 1.30 बजे तक होगी।


भोपाल में झल्लाए आईपीएस ने कैमरा तोड़ा, पत्रकारों को दी धमकी
Our Correspondent :29 March 2017
भोपाल: प्रोबेशनरी आईपीएस की पहली पोस्टिंग के पहले ही दिन थाना क्षेत्र में लूट क्या हुई ,साहब ने आपा ही खो दिया। राजधानी के अयोध्यानगर थाना क्षेत्र में एक महिला को बंधक बनाकर की गई लूट की बड़ी घटना को छिपाने के लिए प्रोबेशनल आईपीएस अधिकारी धर्मराज मीणा ने न सिर्फ मीडियाकर्मियों से बदतमीजी की, बल्कि नवदुनिया के फोटो जर्नलिस्ट निर्मल व्यास का कैमरा भी तोड़ डाला। मीणा को मंगलवार को ही अयोध्यानगर टीआई का चार्ज दिया गया था।
क्षेत्र के सागर एवेन्यु बिल्डिंग में रहने वाली महिला को घर में बंधक बनाकर तीन लाख रुपए की लूट की वारदात हुई थी। मीडियाकर्मी इसी मामले की जानकारी लेने थाने पहुंचे थे। मीडियाकर्मी को थाने के अंदर आता देख भड़के मीणा ने वहीं से चिल्लाते हुए पहले सभी को भाग जाने को कहा। जब मीणा द्वारा किए जा रहे दुर्ववहार की शिकायत आईजी योगेश चौधरी से की गई, तो उन्होंने मीणा से बात कर जानकारी देने को कहा।
इस बात से झल्लाए मीणा ने पहले तो मीडियाकर्मियों को अंदर आने को कहा और उसके बाद बंद कैमरा देख वो भड़क गए। यह बताने पर भी कि फोटो नहीं ली जा रही है उन्होंने किसी की बात नहीं सुनी और नवदुनिया के फोटोजर्नलिस्ट का कैमरा छीनकर पहले जब्त कर लिया फिर जोर से जमीन पर पटक दिया।
मीणा की अभ्रदता यहीं खत्म नहीं हुई उन्होंने चिल्लाते हुए कहा भागो यहां से वरना कलेक्टर को बोलकर सबको अंदर करवा दूंगा। इससे पहले सोमवार को भी राजधानी में आम आदमी पार्टी के प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने अपनी नाकामी छिपाने के लिए दो कैमरामैन और एक फोटोजर्नलिस्ट के साथ अभद्रता की थी।
मुख्यमंत्री से बात करूगा
घटना को शर्मनाक बताते हुए जनसंपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि पुलिस से इस तरह का व्यवहार अपेक्षित नहीं है। उन्होंने कहा वे इस मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से बात करेंगे।


भारत में ISIS की एंट्री का संकेत और बगदादी का ‘गिफ्ट’ था भोपाल ट्रेन ब्लास्ट
Our Correspondent :17 March 2017
भोपाल: 7 मार्च को भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन में हुए ब्लास्ट को भारत में आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (IS) के आगमन का “आगाज” कहा जा रहा है। इस ब्लास्ट में 10 यात्री घायल हो गए थे। धमाके की जांच में पता लगा कि आईएस के भारत में प्रवेश की ‘घोषणा’ एक लेटर के रूप में थी और यह लेटर ट्रेन में फटने वाले बम पर लिपटा हुआ था। अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, इस घोषणा पत्र में ब्लास्ट के एक आरोपी आतिफ मुजफ्फर को ‘सरगना’ लिखा था और साथ ही इस ब्लास्ट को आईएस मुखिया अबु बक्र अल-बगदादी की तरफ से एक ‘तोहफा’ बताया गया था। ब्लास्ट के मुख्य आरोपी मुजफ्फर ने पूछताछ में इस लेटर पर लिखी बातों के बारे में बताया।
भोपाल-उज्जैन ब्लास्ट मामले में पुलिस ने अब तक 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। हालांकि जांचकर्ताओं ने इस ट्रेन हादसे को एक शौकिया हरकत बताया था, लेकिन साथ ही कहा था कि ब्लास्ट करने का पूरा तरीका आईएस के ऑनलाइन उपलब्ध तरीके से मिलता-जुलता था। ब्लास्ट में इस्तेमाल किया गया पाइप बॉम्ब आईएस की ऑनलाइन उपलब्ध इंग्लिश मैगजीन “हाउ टू मेक बॉम्ब इन किचन ऑफ यॉर मॉम” में बताए गए तरीके से बनाया गया था। ब्लास्ट के बाद अलीगढ़ और कानपुर से संबंध रखने वाले चार लोगों को मध्य प्रदेश के पिपरिया से गिरफ्तार किया गया था। दो लोगों को कानपुर के जजमउ से हिरासत में लिया गया था।
शुरुआती जांच में पता लगा कि आरोपी दानिश, फैजल और इमरान आपस में भाई थे और सैफुल्लाह उनका चचेरा भाई था। सैफुल्लाह को लखनऊ में 12 घंटे चले एनकाउंटर के बाद मार गिराया गया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि आईएस ने कुछ ग्राफिक इमेज जारी की हैं, जिसमें संकेत मिले है कि भारत में अगला निशाना ताजमहल हो सकता है। यह ग्राफिक इमेज लखनऊ एनकाउंटर के एक हफ्ते बाद जारी की गई हैं।


दलाई लामा विधानसभा में सिखाएंगे आनंद से रहने की कला
Our Correspondent :17 March 2017
भोपाल: बौद्ध धर्म गुरु दलाई लामा 19 मार्च को विधायकों और अन्य प्रबुद्ध लोगों को आनंदित रहने की कला सिखाएंगे। वे विधानसभा के सभागार में व्याख्यान देंगे। इस मौके पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और विधानसभा अध्यक्ष सीतासरण शर्मा भी मौजूद रहेंगे। उल्लेखनीय है कि दलाई लामा नर्मदा सेवा यात्रा में हिस्सा लेने आ रहे हैं। वे 19 को ही देवास जिले में नर्मदा सेवा यात्रा में हिस्सा लेंगे।
इसके बाद यात्रा सीहोर जिले में प्रवेश करेगी। यात्रा के दौरान सीहोर जिले में कई प्रमुख हस्तियां शामिल होंगी, इस दौरान विभिन्न् सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होंगे। 20 मार्च को संत कमल किशोर नागर छीपानेर जाएंगे।
22 मार्च को आंवलीघाट पर आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में स्वामी विद्यानंद सरस्वती महाराज मौजूद रहेंगे। 25 मार्च को शाहगंज में जग्गी महाराज और पर्यावरविद् सुनीता नारायण भी मौजूद रहेंगी। सीएम के गृह ग्राम जैत में 27 मार्च को कैलाश खेर और अनुराधा पौडवाल भजन संध्या में हिस्सा लेंगे।


ट्रेन में ब्लास्ट करने वाले 3 आरोपी 27 तक रिमांड पर, NIA के वकील ने दी दलील
Our Correspondent :16 March 2017
भोपाल: भोपाल-उज्जैन पैसेंजर (59320) ट्रेन में हुए ब्लास्ट मामले के तीनों संदिग्ध आरोपियों को पुलिस ने गुरुवार को भोपाल जिला अदालत में पेश किया। यहां से कोर्ट ने आरोपियों को 27 मार्च तक रिमांड पर दिया है।
और गिरफ्तारियां बाकी हैं
एनआईए के वकील अजय गुप्ता ने आरोपियों की रिमांड मांगने के लिए दलील दी कि, इस मामले में कई महत्वपूर्ण जानकारियां जुटानी बाकी हैं। संदिग्धों के बताए अनुसार कुछ सामान जब्त किया जाना है, वहीं कई और गिरफ्तारियां भी बाकी हैं। आरोपियों को अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश गिरीश दीक्षित की अदालत में पेश किया गया था। न्यायाधीश ने सभी आरोपियों को 27 मार्च तक रिमांड पर भेज दिया है।
मामला संवेदनशील है, इससे मीडिया को दूर रखा जाए: अजय
एनआईए के वकील अजय गुप्ता ने कोर्ट में कहा कि, यह एक अंतरराष्ट्रीय मुद्दा होने के साथ ही साथ काफी संवेदनशील मामला है। इसीलिए सुरक्षा कारणों से मीडिया को इस पूरी कार्रवाई से दूर रखा जाना चाहिए।
कड़ी सुरक्षा के बीच पेश किए गए आरोपी
कड़ी सुरक्षा के बीच पुलिस आरोपी दानिश अख्तर, आनिश मोहम्मद और सैय्यद मीर हुसैन को लेकर अदालत पहुंची थी। जिस वक्त आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया था उस वक्त कोर्ट में भारी पुलिस बल तैनात किया गया था।
क्या था मामला
7 मार्च को देश में आईएसआईएस ने हमला किया था। हमला भोपाल से 70 किमी दूर कालापीपल में जबड़ी स्टेशन के पास सुबह 9.38 मिनट पर भोपाल-उज्जैन पैसेंजर (59320) ट्रेन में हुआ था। इस IED ब्लास्ट में 10 लोग जख्मी हुए थे। ब्लास्ट के कारण जनरल कोच में छेद हो गए थे। हमले के कुछ ही घंटों बाद पिपरिया पुलिस ने एक बस को टोल नाके पर रोककर तीन संदिग्धों को अरेस्ट किया था।


एक ही क्लास की फीस में 1300 तक का अंतर, सड़क पर उतरे अभिभावक
Our Correspondent :16 March 2017
भोपाल: राजधानी के सीबीएसई स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ाने वाले अभिभावकों को महंगी किताबें खरीदना पड़ रही हैं। हर जगह सीबीएसई सैलेबस होने के बाद भी स्कूल अपनी मर्जी की किताबें चला रहे हैं। यही वजह है कि एक ही कक्षा की किताबों में 1300 रुपए तक का फर्क है। मसलन डीपीएस में तीसरी कक्षा की किताबें 4300 में तो सागर पब्ल्कि स्कूल में 3000 की हैं। स्कूलों की मनमानी के खिलाफ अभिभावक बुधवार को एकजुट हो गए। उन्होंने एमपी नगर स्थित गायत्री शक्ति पीठ के पास मोमबत्ती जलाकर प्रदर्शन किया।
प्रदर्शन के दौरान अभिभावकों ने आरोप लगाया कि स्कूलों ने खुलेआम लूट मचा रखी है। सरकार का इस ओर कोई ध्यान नहीं है। अभिभावक परेशान हो रहे हैं और शिक्षा के नाम पर निजी स्कूल अंधाधुंध कमाई कर रहे हैं। उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही। स्कूलों में पढ़ाई शुरू हो गई है और मजबूरन अभिभावकों को महंगा कोर्स खरीदना पड़ रहा है। निजी प्रकाशकों से साठ-गांठ के कारण एनसीईआरटी की किताबों से छात्रों को नहीं पढ़ाया जा रहा।

20 प्रतिशत तक बढ़ाई फीस

इस साल से स्कूलों ने 20 प्रतिशत तक फीस में इजाफा कर दिया है। अभिभावकों ने कहा कि महंगी किताबें और उसके ऊपर बढ़ी हुई फीस से उनके घर का बजट गड़बड़ा गया है। जिनके दो बच्चे हैं उन्हें बहुत ज्यादा दिक्कत हो रही है। सेंट जोसफ कोएड स्कूल की फीस में भी करीब 15 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है।

यूं लुट रहे अभिभावक

- अभिभावकों ने कहा कि सागर पब्लिक स्कूल में इस बार 16 मार्च को फीस जमा करने के लिए कहा गया है। फीस भी ऑनलाइन जमा करना है। कैश या चेक नहीं लिया जा रहा। ऑनलाइन पेमेंट का जो चार्ज लगेगा वह अभिभावकों को देना है। इसके अलावा फीस नहीं चुकाने पर रोजाना के हिसाब से फाइन भी लिया जाएगा। अभिभावकों ने कहा कि छात्र की मार्च माह की फीस पहले से स्कूल में जमा है। इसके बाद भी फीस जमा करने का दबाव बनाया जा रहा है।
- सेंट जोसफ स्कूल में पिछले साल के मुकाबले इस बार करीब 15 प्रतिशत तक फीस बढ़ा दी गई है। इसके अलावा बुक्स एन बुक्स पर ही किताबें उपलब्ध हैं। तीसरी का कोर्स चार हजार से ज्यादा का है। कई कक्षाओं का कोर्स करीब पांच हजार रुपए तक है।
- सेंट थेरेसा, डीपीएस ,बाल भवन आदि स्कूलों की किताबें बहुत महंगी हैं। अभिभावकों ने इसका विरोध किया है।


मॉर्डन ब्रेड की फैक्टरी में भयानक आग, मौके पर दमकल की 20 गाड़ियां
Our Correspondent :15 March 2017
भोपाल: मध्य प्रदेश के भोपाल में मार्डन ब्रेड की फैक्टरी में आग लग गई। ब्रेड की फैक्टरी भोपाल के गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र में है। आग पर काबू पाने के लिए दमकल की 20 गाडि़यां मौके पर पहुंच गई हैं।
प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार इसमें किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। माना जा रहा है कि आग बिजली के शॉट-सर्किट के कारण लगी है।


BHOPAL PLUS APP बताएगा लो-फ्लोर बस की लोकेशन, रूट और किराया
Our Correspondent :15 March 2017
भोपाल: राजधानी की शहर सरकार लो-फ्लोर बसों में चलने वाली यात्रियों की सुविधा के लिए एक नया मोबाइल एप लेकर आई है। इस एप से आपको झट से पता चल जाएगा कि कौन-सी लो-फ्लोर बस कितनी देर में आएगी। गंतव्य तक पहुंचने के लिए इसका रूट क्या है और इनमें सबसे करीबी और अच्छा रूट कौन-सा है। यही नहीं, गंतव्य तक का किराया कितना लगेगा। लोगों को बस रूट प्लानर के विकल्प पर क्लिक कर जगह का नाम टाइप करना होगा। इसके बाद सर्च करने के बाद आपके मोबाइल पर लो-फ्लोर बस से संबंधित पूरी जानकारी सामने आ जाएगी।
दरअसल, भोपाल स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीएससीडीसीएल) दूसरे फेज में भोपाल प्लस में नई सुविधाएं जोड़ने जा रहा है। लोक परिवहन सेवा की दिशा में रूट प्लानर का विकल्प पहला और सबसे महत्वपूर्ण कदम साबित होगा। ज्ञात हो कि गत सात नवंबर को भोपाल प्लस एप लॉन्च हुआ था। इसमें आधा दर्जन सुविधाएं थीं, अब इनमें इजाफा किया जा रहा है। बीएससीडीसीएल के सीईओ चंद्रमौली शुक्ला का कहना है कि भोपाल प्लस एप में नई सुविधाएं जोड़ी गई हैं, जीआईएस पोर्टल व एप भी तैयार हो चुका है। दोनों एक साथ लॉन्च किए जाएंगे।
ये सुविधाएं भी बढ़ेंगी
पेमेंट सिस्टमः एप से कैशलेस भुगतान की सुविधा शुरू होगी। अभी निगम में टैक्स लेन-देन, किराया वसूली कैशलेस है। स्मार्ट पार्किंग में भी कैशलेस व्यवस्था लागू होनी है। नल कनेक्शनः वर्तमान में एप में संपत्ति कर और जल कर जमा करने की सेवा चल रही है। अब पानी के लिए नल कनेक्शन के आवेदन करने की नई सुविधा शुरू होगी।
GIS पोर्टल और APP में मिलेंगी लोकेशन आधारित सेवाएं
दूसरी तरफ स्मार्ट सिटी कंपनी का जियोग्राफिकल इंफॉर्मेशन सिस्टम (जीआईएस) पोर्टल और एप भी तैयार हो चुका है। इसमें गूगल मैप से ज्यादा सटीक लोकेशन बेस्ड जानकारी मिल सकेगी। साथ ही भोपाल के बैंक एटीएम, मार्केट, हैरिटेज, पर्यटन स्थलों की जानकारी होगी। खास बात यह है कि इसमें स्थान की दूरी का भी पता चलेगा। जीआईएस में लेयर के माध्यम से 50 से अधिक सेवाएं दी गई हैं। इसमें पाइप लाइन में लीकेज, निगम अफसरों के नंबर, प्रोजेक्ट की जानकारी, ट्रैफिक, ऑटोमोबाइल, फाइनेंस, हेल्थ और आपातकालीन नंबर दिए गए हैं।


इस शुभ मुहूर्त में करें होलिका दहन, ऐसा करने से रोग और दरिद्रता का होगा अंत
Our Correspondent :11 March 2017

भोपाल: फाल्गुन की मस्ती का पर्व होली की शुरूआत 12 मार्च से होगी। इस बसंत पर्व में होलिका दहन कर जहां एक ओर भगवान विष्णु की उपासना होगी, वहीं ग्रहों की विपरीत दशा के साथ ही रोग, दरिद्रता का दहन कर सुख-समृद्धि और खुशहाली की कामना की जाएगी।
होलिका दहन का शुभ मुहूर्त
ज्योतिषाचार्य पंडित धर्मेंद्र शास्त्री ने कहा कि पंचांग के अनुसार इस वर्ष फाल्गुन पूर्णिमा, 11 मार्च शनिवार रात्रि को 8.23 बजे से आरंभ होकर रविवार 12 मार्च की रात्रि 8.23 बजे तक रहेगी। होलिका दहन का मुहूर्त रविवार सायं 6.30 बजे से लेकर रात्रि 8. 23 बजे के मध्य होगा। भद्रा का पुच्छकाल 11 मार्च को 4.11 बजे से 5.23 बजे है तथा मुखकाल 5.23 बजे से 7. 23 बजे तक है। बाजारों में रंग बिरंगी पिचकारी रंग गुलाल खूब बिक रहा। दुकानों पर रंगों के ढेर सजे हैं। फॉग सोमवार को मनाया जाएगा लेकिन स्कूल कॉलेजों में युवाओं ने शुक्रवार को जमकर साथियों के साथ होली खेली।
क्या है मान्यता
मान्यता है कि होलिका दहन करने से मनुष्य के कष्ट दूर होते हैं। इस बार होलिका दहन के लिए विशेष शुभ मुहूर्त का समय काफी कम है। ज्योतिष गणना के अनुसार रविवार काे सूर्यास्त से रात 7.53 बजे तक ही होलिका दहन का विशेष शुभ फलदायी मुहूर्त का योग है। पर्व मनाने के लिए शहर से लेकर गांव तक दहन की तैयारियां शुरू कर दी गई है। गांव में नगाड़ों की थाप पर फाग की मस्ती भी शुरू हो गई है।
राशियों पर असर
वृष, मिथुन, कर्क, कन्या, कुंभ और मीन राशि वालों के लिए होलिका दहन अति शुभ फलदायक है, वहीं शेष राशि मेष, सिंह, तुला, वृश्चिक, धनु व मकर राशि वालों के लिए सामान्य फलदायी है।
मुहूर्त का अलग-अलग महत्व
पं.विवेकशील पाण्डेय ने बताया कि होलिका पूजन व होलिका दहन के मुहूर्त का अलग-अलग महत्व है। 12 मार्च को होलिका पूजन के लिए सुबह 10.45 से दोपहर 3.15 बजे तक विशेष शुभ मुहूर्त है, वहीं 3.15 से रात 7.45 बजे तक सामान्य मुहूर्त है। दहन के लिए सूर्यास्त से रात 7.53 तक विशेष शुभ तथा 7.53 से रात 12 बजे तक सामान्य फलदायी मुहूर्त है।
विष्णु की उपासना के लिए होलिका दहन विशेष, कष्टों का होता है दहन
पं. विवेकशील ने बताया कि भगवान विष्णु की उपासना के लिए होलिका दहन पर्व विशेष है। इस दिन ग्रहों की कुदृष्टि से होने वाली परेशानियों के साथ ही रोग, शोक, दरिद्रता का उतारा कर होलिका में दहन किया जाता है। इसी के साथ ही काले कपड़े में साबुत काले उड़द, काले तिल, नारियल, जौ, सरसो आदि को बांधकर शरीर से सात बार सीधा व एक बार उल्टा उतारा कर उसे होलिका में दहन करने से दु:ख, दरिद्रता से मुक्ति मिलती है। अगले दिन सोमवार से पांच दिनी रंगोत्सव शुरू हो जाएगा।
होली पर ट्रैफिक डायवर्ट
13 मार्च को चल समारोह पुराने शहर में में दयानन्द चौक से प्रारंभ होगा। यह जुमेराती, छोटे भैया कार्नर, हनुमानगंज, मंगलवारा, इतवारा, चिंतामन चौक, चौक, लखेरापुरा, भवानी चौक, सिन्धी मार्केट होता हुआ जवाहर चौक और जनकपुरी पहुंचकर समाप्त होगा। इस दौरान भोपाल टॉकीज चौराहा, नादरा बस स्टैण्ड, भारत टॉकीज तिराहा, रॉयल मार्केट, मोती मस्जिद से आवश्यकतानुसार ट्रैफिक डायवर्ट किया जाएगा।


5 राज्यों के चुनाव: शिवराज ने कहा, यह है मोदी मैजिक, कांग्रेस ने उठाए EVM पर सवाल
Our Correspondent :11 March 2017
भोपाल: मध्य प्रदेश के मुखमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को पांच राज्यों के चुनाव परिणामों पर कहा कि उत्तरप्रदेश में मोदी की लहर नहीं, आंधी हैं। वहीं मप्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने ईवीएम पर सवाल उठाए हैं।
शिवराज ने किया ट्वीट
-शिवराज सिंह ने ट्वीट करके कहा कि, देश की जनता ने एक बार फिर बीजेपी के कुशल नेतृत्व पर विश्वास जताया है। इनके परिणामस्वरूप जनता ने भारी मतों से विजयी बनाया है।
-यूपी और उत्तराखंड में बीजेपी को प्रचंड बहुमत से विजयी बनाने के लिए जनता का बहुत-बहुत आभार। यह ऐतिहासिक विजय आपके सपनों को साकार करेगी।
इसके अलावा बोले शिवराज
-शिवराज ने मीडिया से यह भी कहा कि गठबंधन तिनके की तरह उड़ गया। उत्तरप्रदेश का जनादेश अभूतपूर्व है, यह मोदी मैजिक है।
-शिवराज ने कहा कि उत्तराखंड और मणिपुर में भाजपा ने शानदार प्रदर्शन किया। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के नाते अमित शाह की हर मुद्दे पर गहराई से विचार कर आगे बढ़ने की रणनीति सफल रही है।
कांग्रेस ने ईवीएम पर उठाए सवाल
मप्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने चुनाव परिणामों पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि इससे पहले 2013 के इलेक्शन में भी कांग्रेस ने ईवीएम पर सवाल उठाए थे। उत्तरप्रदेश के चुनाव में भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की साख दांव पर लगी थी। इससे मशीनों से छेड़छाड़ कर मनमाना परिणाम निकाला गया।


लेडी डॉन की हत्या से शहर में सनसनी, पुलिस को रंजिश की आशंका
Our Correspondent :8 March 2017
भोपाल: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में मंगलवार को एक बदमाश ने तेजधार हथियार से एक युवती की हत्या कर दी. वारदात के वक्त युवती स्कूटी पर सवार होकर अपने घर जा रही थी. मरने वाली युवती कोई आम लड़की नहीं बल्कि एक लेडी डॉन थी, जो हाल ही में जेल से छूटकर आई थी.
एक स्थानीय पुलिस अधिकारी ने बताया कि हत्या की यह सनसनीखेज वारदात भोपाल की लाला लाजपत राय कॉलोनी में घटित हुई. दरअसल, शहर के चांदबड़ इलाके में रहने वाली 26 वर्षीय सुनीता सिंह पिपलानी इलाके में पान की दुकान चलाती थी.
बीते मंगलवार की रात सुनीता अपनी दुकान बंद कर स्कूटी से वापस घर की तरफ लौट रही थी. तभी रास्ते में एक बाइक सवार बदमाश ने उसे रोका और उसकी गर्दन पर तेजधार हथियार से हमला बोल दिया. आरोपी ने युवती के गले पर कई वार किए और मौके से फरार हो गया.
सुनीता लहूलुहान होकर मौके पर गिर पड़ी. स्थानीय नागरिकों ने इस बात की सूचना पुलिस को दी. सूचना मिलते ही थाना अशोका गार्डन पुलिस मौके पर पहुंच गई और फौरन सुनीता को अस्पताल पहुंचाया. जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.
पुलिस के मुताबिक सुनीता हाल ही में गांजा तस्करी के एक मामले में जमानत पर छूटकर जेल से बाहर आई थी. उसके इलाके में लोग उसे लेडी डॉन कह कर बुलाते थे. वह काफी दबंग युवती थी. उसके खिलाफ पुलिस के पास कई मामले दर्ज हैं.
पुलिस को उसकी हत्या के पीछे किसी जानकार का हाथ होने की आशंका है. सुनीता के परिजनों का कहना है कि किसी उसका पैसों को लेकर विवाद चल रहा था. उसी रंजिश में सुनीता की हत्या की गई है. पुलिस मामला दर्ज कर जांच पड़ताल कर रही है.


ट्रेन विस्फोट की जांच करने एनआईए की टीम भोपाल पहुंची
Our Correspondent :8 March 2017
भोपाल: राष्ट्रीय जांच एजेंसी यानी एनआईए की एक टीम मध्यप्रदेश में मंगलवार को ट्रेन में हुए विस्फोट मामले की जांच के लिए भोपाल पहुंच गई है.
एनआईए के अधिकारी भोपाल से 60 किलोमीटर दूर शाजापुर जिले के जबरी रेलवे स्टेशन के निकट हुए विस्फोट स्थल पर जाकर जांच करेंगे.
एनआईए के अधिकारी मध्यप्रदेश पुलिस से बातचीत करके यह पता लगाने की कोशिश करेंगे कि उन्हें मिले सुराग क्या इशारा करते हैं.
मध्यप्रदेश के गृहमंत्री भूपेन्द्र सिंह ने मंगलवार को कहा था कि शुरुआती जांच से लगता है कि यह विस्फोट आतंकवादी हमला है. घटना के पीछे की साजिश का पता लगाने के लिए जांच चल रही है.
भोपाल उज्जैन पैसेंजर ट्रेन में सोमवार को हुए विस्फोट में कम से कम 10 लोग घायल हो गए थे. जिनमें से तीन की हालत गंभीर है. मध्यप्रदेश के आईजी (खुफिया) मकरंद देओस्कर ने कहा था कि आईईडी के जरिए विस्फोट किया गया था.


एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस के नए क्षेत्रीय कार्यालय का भोपाल में शुभारंभ
Our Correspondent :6 March 2017
भोपाल: देश की अग्रणी बीमा कंपनियों में से एक एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस ने मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ में अपनी उपस्थिति मजबूत करने के इरादे से आज यहां नए क्षेत्रीय कार्यालय का शुभारंभ किया।
इस मौके पर कंपनी के प्रबंध निदेशक एवं कार्यकारी निदेशक अरिजीत बसु ने संवाददाताओं को बताया, प्रदेश के मध्य में कंपनी को एक बड़ा नया क्षेत्रीय कार्यालय खोलने की सख्त जरूरत थी। भोपाल में नये क्षेत्रीय कार्यालय से हम मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में अपनी पहुंच बढ़ाना चाहते हैं।
उन्होंने कहा, समग्रता मैं देखें तो एसबीआई लाइफ का प्रदर्शन बहुत अच्छा रहा है। पिछले वित्त वर्ष के मुकाबले 11 माह :अप्रैल-फरवरी: की अवधि में हमारे कुल जमा का नया कारोबार 50 प्रतिशत बढ़ा है। हमारे व्यवसाय के लिये भोपाल एक बेहद महत्वपूर्ण केन्द्र है।
बसु ने बताया कि भोपाल क्षेत्र ने अपने कुल व्यक्तिगत नए बिजनेस :एपीई: में 42 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है, जो 327 करोड़ रुपये रहा है। वित्त वर्ष 2015-16 की इसी अवधि के दौरान यह राशि 289 करोड़ रुपये थे। कुल नए व्यवसाय प्रीमियम :एपीई: में 33 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुयी जो कि 384 करोड़ रहा जबकि पिछली बार इसी वित्तीय अवधि में यह राशि 289 करोड़ रुपये थी।
इस अवसर पर स्टेट बंैक आफ इंडिया भोपाल सर्किल के मुख्य महाप्रबंधक :सीजीएम: के टी अजित और एसबीआई लाइफ इंश्योरंंेस के कार्यकारी निदेशक आनंद पेजावर सहित एसबीआई और एसबीआई लाइफ के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


प्राइवेट पार्टी नहीं मिलने से रुका भोपाल स्टेशन का रि-डेवलपमेंट
Our Correspondent :6 March 2017
भोपाल: 75 करोड़ खर्च कर होंगे विकास कार्य, राज्य सरकार व नगर निगम ने अभी नहीं की पहल
भोपाल रेलवे स्टेशन को वर्ल्ड क्लास बनाने के लिए रेलवे प्लॉन तो खूब बनाता है लेकिन इन्हें साकार नहीं कर पाता है। इसके लिए कोई प्राइवेट पार्टी भी आगे नहीं आ रही है। उधर हबीबगंज स्टेशन के रि-डेवलपमेंट का काम आज से प्राइवेट पार्टी शुरू कर रही है। इसके लिए रेलवे बंसल कन्सट्रक्शन को कुछ काम हस्तांतरित कर रहा है। ज्ञात हो कि गत 9 फरवरी को रेल मंत्री ने देशभर के चुनिंदा 400 स्टेशनों के रि-डेवलपमेंट का सॉफ्ट प्लान लांच किया था। इस प्लॉन के पहले चरण में भोपाल रेलवे स्टेशन भी शामिल किया गया है। इसके लिए रेलवे ने प्रत्येक स्टेशन के रि-डेवलपमेंट के लिए 75 करोड़ का प्लॉन बनाया है। इस प्लान के टेंडर भी जारी हो चुके हैं। भोपाल स्टेशन के रि-डेवलपमेंट के लिए अभी तक कोई प्राइवेट पार्टी सामने नहीं आई है और न ही राज्य सरकार या भोपाल नगर निगम ने ही इसके लिए पहल की है। अभी तक भोपाल रेल मंडल के पास किसी भी पार्टी का रि-डेवलपमेंट का प्लान नहीं पहुंचा है। दरअसल प्राइवेट पार्टी न मिलने पर राज्य सरकार या नगर निगम भी प्रस्ताव दे सकते हैं, लेकिन ऐसी पहल भी नहीं हुई है।
यह है प्लॉन
भोपाल के लिए 75 करोड़ का प्लॉन है। इसके बदले डेवलपर को रेलवे अपनी सात एकड़ जमीन भी दे रहा है। इस जमीन पर प्राइवेट डेवलपर अगले 45 वर्षों तक व्यावसायिक गतिविधि चला सकता है। साथ ही स्टेशन की पार्किंग, विज्ञापन, बजट होटल आदि में भी निजी डेवलपर मुनाफा कमा सकता है।
इसलिए नहीं ले रहे रुचि
भोपाल के रि-डेवलपमेंट के लिए रेलवे अस्सी फीट रोड और स्टेशन के पश्चिमी हिस्से में छोला से लगी जो भूमि दे रहा है उसकी व्यावसायिक उपयोगिता बहुत कम है यानि डेवलपर द्वारा यहां पर शापिंग काम्प्लेक्स विकसित करने पर भी नुकसान में रहेगा। उधर नगर निगम और राज्य सरकार की माली हालत भी इतनी अच्छी नहीं है कि वो इस काम को अपने हाथ में लें। यदि कोई डेवलपर सामने नहीं आया तो भोपाल स्टेशन का डेवलपमेंट रेलवे के वार्षिक बजट से ही हो सकेगा।


नौकरी की तलाश कर रही महिलाओं के लिए बड़ी खुशखबरी
Our Correspondent :25 Feb. 2017
भोपाल: भोपाल प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड आंगनबाड़ी में बंपर भर्ती लेकर आया है। अगर आप भी यहां जॉब करने के इच्छुक है तो जल्द ही अंतिम तिथि से पहले रिक्त पदों की भर्ती लिए 7 मार्च तक अावेदन कर सकते है।
कुल-357 पद
पोस्ट-पर्यवेक्षक
आंगनबाड़ी कार्यकर्त्ता
एेज - 35
शैक्षणिक योग्ता- मान्यताप्राप्त संस्थान से स्नातक /12वीं पास (पदानुसार) उम्मीदवार आवेदन कर सकता हैं।
आवेदन शुल्क - 250/350/500/700 रुपये वर्ग और पदानुसार।
अावेदन कैसे करें- इच्छुक उम्मीदवार इस वैबसाइट www.peb.mp.gov.in पर जाकर 7 मार्च तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते।
अंतिम तिथि- 7 मार्च, 2017 है।


इंटरव्यू में गाना गाने, पेंटिंग और डांस करने के लिए भी रहिए तैयार
Our Correspondent :25 Feb. 2017
भोपाल: अगर आप सिर्फ ज्ञान और ओवर कॉन्फिडेंस के दम पर सिविल सर्विसेज का इंटरव्यू पास करने की सोच रहे हैं, तो आपको दोबारा सोचना होगा। समय के साथ इंटरव्यू बोर्ड ने साक्षात्कार के तरीकों में बदलाव कर दिए हैं। अब हो सकता है कि साक्षात्कार के दौरान आप जो कह रहे हैं उसे प्रूफ भी करना पड़े। जैसे आप हॉबी में सिंगिंग, डांस या पेंटिंग बताते हैं तो एक्सपर्ट्स आपको इसे करके भी दिखाने को कह सकता है।
इसके लिए इंटरव्यू हॉल में सारी व्यवस्थाएं पहले से होती हैं। पिछले कुछ समय में इंटरव्यू में यह बातें सामने आईं। एमपीपीएससी 2015 परीक्षा के साक्षात्कार 1 मार्च से शुरू होने जा रहे हैं,जो 4 अ"ङैल तक चलेंगे। इंटरव्यू की प्रेक्टिस कराने और महत्वपूर्ण टिप्स देने के लिए शुक्रवार से सेंट्रल लाइब्रेरी में इंटरव्यू कार्यशाला शुरू हुई।
पहले दिन सामान्य प्रशासन विभाग में उपसचिव सुधीर कोचर ने स्टूडेंट्स को महत्वपूर्ण टिप्स दिए। उन्होंने बताया कि अब इंटरव्यू बोर्ड काफी सख्त हो गया है। वह उम्मीदवारों को अधिक टाइम नहीं देता। इस दौरान उन्होंने मॉक टेस्ट के माध्यम से स्टूडेंट्स को इंटरव्यू के बारे में भी समझाया।
एक्सपर्ट्स के सुझाव
- इंटरव्यू स्थल को एक-दो दिन पहले जाकर देख लें, ताकि उसके वातावरण को समझ सकें।
- फॉर्मल कपड़े पहन कर जाएं।
- जैसे हैं, वैसा ही व्यवहार करें।
- आर्टीफिशियल विहेबियर न दिखाएं।
- बोर्ड के सदस्यों का मुस्कुराकर अभिनंदन करें।
- सवाल के जवाब में सरकार की आलोचना करते समय बैलेंस रखें। कमी बताएं, आलोचना न करें।
- कॉन्फिडेंस के साथ बात करें। दूसरों की नकल न करें।
- जो जवाब दे सकते हैं, वहीं दें। अनावश्यक बात को न खीचें।
- इंटरव्यू आपके धैर्य की परीक्षा है, कठिन और चुभने वाले सवालों पर भी संयम बनाए रखें।
- साक्षात्कारकर्ता से जवाब देते समय बहस की स्थिति पैदा ना करें।


अजय सिंह बने नेता प्रतिपक्ष दूसरी बार संभालेंगे कमान
Our Correspondent :24 Feb. 2017
भोपाल: दिल्ली और भोपाल में कई दिनों से चली आ रही जोर-आजमाइश के बाद आखिरकार कांग्रेस ने विधानसभा में अपने नेताप्रतिपक्ष के नाम का ऐलान कर दिया है। सत्यदेव कटारे के निधन के बाद से यह पद रिक्त था और उपनेता प्रतिपक्ष बाला बच्चन को इसकी जिम्मेदारी प्रभारी के रूप में दी गई थी। अब अजय सिंह (राहुल भैया) को नेताप्रतिपक्ष बनाया गया है। उन्हें यह जिम्मेदारी दूसरी बार मिली है। इसके पूर्व 2011 से 2013 तक वे इस पद पर काम कर चुके हैं।
इस आशय की जानकारी विधायक डॉ. गोविन्द सिंह ने गुरूवार को विधानसभा में दी। इससे पहले अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की ओर से बनाए गए पर्यवेक्षक अजय माकन ने दिल्ली में उनके नाम की घोषणा की। ज्ञात हो कि स्व. कटारे के निधन के कुछ दिन बाद ही प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने प्रस्ताव भेजकर पार्टी हाईकमान को नेता प्रतिपक्ष चयन के लिए अधिकृत कर दिया था, चार दिन पूर्व ही 20 फरवरी को पर्यवेक्षक अजय माकन, प्रदेश कांग्रेस प्रभारी मोहन प्रकाश और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरूण यादव की मौजूदगी में रायशुमारी के लिए कांग्रेस विधायक दल की बैठक प्रदेश कांग्रेस कार्यालय भोपाल में रखी गई। रायशुमारी के स्थान पर बैठक में एक लाइन का प्रस्ताव पारित कर पार्टी हाईकमान को ही इसके लिए अधिकृत कर दिया गया था।
अंतत: कल के प्रदर्शन में कांग्रेस ने एकजुटता का संदेश देने के बाद आज गुरूवार को इस महत्वपूर्ण पद के लिए अजय सिंह के नाम की घोषणा कर दी। वैसे, इस पद के लिए उपनेता प्रतिपक्ष बाला बच्चन, वरिष्ठ विधायक मुकेश नायक, पूर्व मंत्री महेन्द्र सिंह कालूखेड़ा और रामनिवास रावत के नाम की भी चर्चा थी। जब रायशुमारी के लिए विधायक दल की बैठक बुलाई गई थी उससे पहले ही 24 विधायकों ने अजय सिंह के निवास पर बैठक कर अपनी ताकत दिखाने का प्रयास किया था। बैठक में 14 विधायकों के साथ वे प्रदेश कांग्रेस कार्यालय भी पहुंचे थे। जिससे यह अंदाजा लगाया जा रहा था कि हाईकमान से उनके नाम की हरी झंडी मिल जाएगी। श्री सिंह पूर्व मुख्यमंत्री स्व. अर्जुन सिंह के पुत्र हैं और दिग्विजय सिंह के मंत्री मंडल में मंत्री भी रह चुके हैं। वे सीधी जिले के चुरहट विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं।



लोग डंडे ले उतरे सड़क पर, बोले- अब खैर नहीं, छोड़ दो शहर
Our Correspondent :24 Feb. 2017
भोपाल: दरअसल, पिछले दिनों लो-फ्लोर बस में एक यात्री की जेबकतरे ने चाकू मारकर हत्या कर दी थी। इसी घटना के विरोध में भोपाल के नागरिक हाथों में डन्डे लेकर सड़कों पर उतरे। गुण्डों- बदमाशों को ललकारा कि अब भोपाल शहर में तुम्हारी खैर नहीं। या तो गुण्डागर्दी छोड़ दो या भोपाल। भोपाल नागरिक विकास समिति के बैनर तले इस विरोध-प्रदर्शन में शहर के नागरिकों ने हाथों में लट्ठ लेकर कोटरा सुल्तानाबाद इलाके में प्रदर्शन किया।
भोपाल नागरिक विकास समिति के अध्यक्ष रमेश राठौर ने बताया कि शहर में गुण्डागर्दी बहुत बढ़ गई है। सभ्य लोगों और महिलाओ-बच्चों का घरों से निकलना मुश्किल हो गया है। इसलिए भोपाल के नागरिकों को हमने महीने में एकदिन गुण्डागर्दी के खिलाफ सड़कों पर निकालने की ठान ली है। इससे शहर की कानून-व्यवस्था और अन्य चीजें सही रह सकेंगी।
रमेश का कहना है कि अभी नागरिक घरों में बैठकर टीवी और अन्य दैनिक कामों में व्यस्त रहते हैं। वे किसी भी अनैतिक काम व बिगड़ती कानून-व्यवस्था के खिलाफ सड़कों पर नहीं आते हैं। इससे व्यवस्था और बिगड़ती जा रही है। शहर के सभी नागरिकों को हम वाट्सअप पर जोड़ रहे हैं, जिससे कि महीने में एकदिन सभी नागरिक एक स्थान पर एकत्रित होकर कानून व्यवस्था को ठीक करने के लिए सड़कों पर आएंगे। जिससे जनप्रतिनिधियों को भी मालूम चलेगा कि सभ्य नागरिक भी एकत्रित होने लगे हैं।
समिति के प्रदर्शन में बड़ी संख्या में नागरिकों ने डंडे लेकर गुण्डागर्दी के खिलाफ हिस्सा लिया है। बिगड़ती कानून-व्यवस्था को सुधारने की भी मांग की है। प्रदर्शन कर रहे नागरिक नारे लगा रहे थे- गुण्डे-बदमाशों सावधान, जाग उठा है आम इंसान। और नहीं बस और नहीं, गुण्डे-बदमाशों की भोपाल में ठौर नहीं। भोपाल नागरिक विकास समिति ने एक और नारा दिया है- निकलो बाहर मकानों से, जंग लड़ो गुण्डे-बदमाशों से।


माय बस में मर्डर, क्लीन भोपाल, पानी पर फोकस
Our Correspondent :23 Feb. 2017
भोपाल: नगर निगम परिषद की बैठक इस माह के अंत में आयोजित की जा रही है। हालांकि अभी बैठक का एजेंडा जारी नहीं हुआ है, लेकिन परिषद की बैठक में माय बस में जेबकट द्वारा किए गए मर्डर का मामला गर्मा सकता है। कारण यह है कि इन बसों का संचालन नगर निगम की कंपनी बीसीएलएल करती है। इसके साथ ही शहर से जुड़े सफाई कैम्पेन, अतिक्रमण, वाटर सप्लाई आदि मामले उठेंगे।
BCLL: गर्माएगा मुद्दा
दो दिन पहले जेबकटों ने माय बस में एक व्यक्ति की हत्या कर दी थी। इन बसों में सुरक्षा का मामला निगम परिषद की बैठक में उठेगा। बसों में 30 लाख की लागत से कैमरे लगाए गए थे, पर अब वह गायब हैं। ऐसी स्थिति में पार्षद बीसीएलएल को घेरेंगे और इसमें सुरक्षा की मांग करेंगे।
कैम्पेन: सफाई में सहयोग
शहर को सफाई में नंबर-1 बनाने के लिए स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है। खुले में शौच मुक्त घोषित होने के लिए पार्षद महापौर का आभार व्यक्त करेंगे। इसके साथ ही बैठक में दुकानों का आवंटन, वाहन पार्किंग व्यवस्थित करने, स्मार्ट सिटी का मामला सहित एजेंडें में शामिल कई बिंदुओं पर चर्चा होगी।
प्लानिंग: वाटर सप्लाई पर चर्चा
गर्मी के मौसम से पहले शहर में पेयजल सप्लाई व्यवस्था को किस तरह से दुरूस्त किया जाए इस मुद्दे पर चर्चा होगी। गौरतलब है कि पानी पर्याप्त है। सप्लाई में कहीं-कहीं दिक्कत आती है, इसके लिए अभी से प्लानिंग की जाएगी, ताकि नागरिकों को परेशानी न हो।
अतिक्रमण: बैठक में बनेगा इश्यू
पिछले एक महीने से अतिक्रमण का मामला खासा गर्मा रहा है। एक महिला से मारपीट के बाद अतिक्रमण अधिकारी कमर साकिब को हटाना का मामला भी उठेगा। इन पर अब तक एफआईआर नहीं हुई है। इसके साथ ही इस घटना के बाद लगातार अतिक्रमण बढ़ रहे हैं, इस पर भी चर्चा होगी।


पुरुष अध्यापकों का होगा तबादला, निकाय की एनओसी होगी जरूरी
Our Correspondent :23 Feb. 2017
भोपाल: प्रदेश में पहली बार पुरुष अध्यापकों के तबादले होंगे। इसके लिए अध्यापकों को ऑनलाइन आवेदन करना होगा। इसमें निकाय का अनापत्ति प्रमाण पत्र लगाना जरूरी होगा। ये भी देखा जाएगा कि तबादले से संबंधित निकाय में शिक्षकों की कमी तो नहीं हो जाएगी। सरकार के इस फैसला का खुलासा स्कूल शिक्षा मंत्री विजय शाह गुरुवार को विधानसभा में करेंगे।
ये फैसला मंगलवार को विस में हुई कैबिनेट की बैठक में हुआ। निर्णयों की जानकारी देते हुए संसदीय कार्यमंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि अध्यापकों के संविलियन से जुड़े प्रस्ताव को मंजूरी दी गई है, लेकिन विस सत्र चलने की वजह से उन्होंने नीति के प्रावधानों के खुलासे से इंकार कर दिया।
कैबिनेट में राज्य सहकारी कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक के बकायदारों के लिए एकमुश्त समझौता योजना को जून 2017 तक बढ़ाने का फैसला हुआ। बैंक कर्मचारियों का संविलियन भी इस अवधि तक हो सकता है। अभी न तो किसानों ने बैंक का कर्ज चुकाया है और न ही कर्मचारियों के संविलियन की कार्रवाई शुरू हुई है।
नोटबंदी के बाद स्टेट हाईवे को टोल फ्री करने के फैसले से ठेकेदारों को हुए नुकसान की भरपाई करने के लिए उन्हें टोल वसूलने के लिए अतिरिक्त समय दिया जाएगा। तिलहन संघ के 329 कर्मचारियों के संविलियन के लिए योजना की मियाद छह माह बढ़ाई गई है। अब जून तक संविलियन हो सकता है।
पीओएस मशीन के इस्तेमाल पर नहीं लगेगी स्टाम्प फीस
कैबिनेट ने निर्णय लिया कि पीओएस (प्वाइंट ऑफ सेल) मशीन का इस्तेमाल करने वाले कारोबारियों को भुगतान के लिए बैंक से करार करने पर स्टाम्प शुल्क नहीं देना होगा। अभी करार पर 500 रुपए स्टाम्प शुल्क है। कैशलेस व्यवस्था को बढ़ावा देने के उद्देश्य से ये फैसला किया है। बैठक में मुख्यमंत्री शहरी अधोसंरचना विकास योजना के प्रस्ताव को रद्द कर दिया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दोबारा विस्तृत प्रस्ताव बनाकर लाने के निर्देश अधिकारियों को दिए।
जुलाई में फिर होगा 'मिल बांचें" कार्यक्रम
अनौचारिक चर्चा के दौरान स्कूलों में पढ़ाने के लिए चलाए गए 'मिल बांचें" कार्यक्रम की समीक्षा की गई। इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि कार्यक्रम के अच्छे नतीजे आए हैं। 2 लाख से ज्यादा लोगों ने इसमें भाग लिया। इससे स्कूलों का सोशल ऑडिट हुआ। ये कार्यक्रम जुलाई में एक बार फिर चलाया जाएगा। इसमें फोकस प्राथमिक और मिडिल स्कूल पर किया जाएगा।


प्रदेश में एक बार फिर शुरु हुई पट्टे की पॉलिटिक्स
Our Correspondent :22 Feb. 2017. 2017
भोपाल: मंगलवार से शुरू होने जा रहे विधानसभा सत्र में प्रदेश सरकार आवास गारंटी विधेयक लाने की तैयारी में है, सरकार के इस कदम को मध्यप्रदेश की सियासत में एक बार फिर उस पट्टा पॉलिटिक्स की वापसी के तौर देखा जा रहा है जिसकी शुरुआत 1980 में अर्जुन सिंह ने की थी, जब उन्होंने सरकारी जमीन पर अतिक्रमण कर मकान बनाने वालों को 50 वर्गफुट के पट्टे देने का नियम बनाया था। इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए दिग्विजय सिंह ने अपने दूसरे कार्यकाल में दलित एजेंडे के तहत गांवों में चरनोई की जमीन पट्टे पर देने का फैसला किया।
उम्मीद थी कि ये कदम 2003 के विधानसभा चुनाव में गेमचेंजर साबित होगा, लेकिन मामला उल्टा पड़ गया। चरनोई भूमि पर कब्जे को लेकर गांव-गांव में संघर्ष हुए और नतीजे कांग्रेस के खिलाफ आए। तब से ही पट्टे की राजनीति ठंडे बस्ते में चली गई थी लेकिन शिवराज सरकार ने एक बार फिर इस पर दांव लगाने का मन बनाया है। इधर कांग्रेस ने भी चरनोई और भूदान की जमीन पर दबंगों के कब्जे कोमुद्दा बना कर सरकार को घेरने की तैयारी कर ली है, जाहिर है आने वाले दिनों में प्रदेश में पट्टे की पॉलिटिक्स केंद्र में आने वाली है।
जमीन पर कब्जा दिलाना सबसे बड़ी चुनौती
आवास गारंटी विधेयक ला रही सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती सालों पहले बांटे गए भूदान और चरनोई जमीन के पट्टों पर उनके वास्तविक हकदारों को कब्जा दिलाना है।इस मसले पर मुख्यमंत्री के क्षेत्र बुधनी से भोपाल तक एकता परिषद का पैदल मार्च तो किसी तरह सरकार ने रुकवा लिया, लेकिन अब 23 फरवरी को होने वाले खुले संवाद में मुख्यमंत्री को सवालों के जवाब देने पड़ सकते हैं।
भूदान और चरनोई की जमीनों पर दबंगों का कब्जा व वन भूमि से बेदखली के चलते प्रदेशभर में लगभग 12 लाख परिवार अपनी ही जमीन से वंचित हैं। इनमें सबसे ज्यादा शिकायत भिंड, मुरैना, चंद्रघाट, गुना, शिवपुरी, श्योपुर और टीकमगढ़ इलाके में है।


भोपाल में कांग्रेस का प्रदर्शन, लाठीचार्ज, बड़े नेता गिरफ्तार
Our Correspondent :22 Feb. 2017
भोपाल: प्रदेश सरकार की नीतियों के खिलाफ कांग्रेस ने टीटी नगर में प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में प्रदेश कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया, नेता कमलनाथ और दिग्विजय सिंह भी मौजूद हैं। प्रदर्शन में लोगों को संबोधित करते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि भाजपा को रेत से प्यार है और किसानों को खेत से।
कांग्रेस के विधानसभा घेराव के दौरान लाठीचार्ज किया गया। इस दौरान कांग्रेस के बड़े नेता दिग्विजय सिंह, ज्योतिरादिया सिंधिया, कमलनाथ, अरुण यादव को गिरफ्तार कर लिया गया।पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह बैरिकेट्स पर चढ़ कर प्रदर्शन करते दिखे।
नेताओं ने आरोप लगाया कि सीएम शिवराज सिंह की नर्मदा सेवा यात्रा सर्वे के लिए है, दिन में भ्रमण किया जाता है और रात में उत्खनन। इसी के साथ ज्योतिरादित्य सिंधिया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधते हुए कहा कि कांच के घर में रहने वालों को मध्यप्रदेश में पत्थर मत फेंकना, यहां आना तो लोहे का रेनकोट पहनकर आना।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने भी राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मप्र में बंटी-बबली की सरकार चल रही है। उन्होंने कहा अगर शशिकला जेल जा सकती है तो 2018 में इन्हें भी जेल भेजा जाएगा।
मीनाक्षी नटराजन ने कहा कि कांग्रेस नेताओं के एक साथ आने से सीएम शिवराज सिंह चौहान को डर लगने लगा है।


प्रभु को किया Tweet, तो पौन घंटे में मिल गई गरीब रथ में छूटी 2 लाख की ज्वैलरी
Our Correspondent :21 Feb. 2017
भोपाल: सुरेश प्रभु को ट्वीट करने के बाद ट्रेन में छूटा एक रेल यात्री का ज्वैलरी से भरा बैग पौन घंटे के अंदर मिल गया। मामला 12612 गरीब रथ का है। भोपाल निवासी दीपक शर्मा अपनी पत्नी और डेढ़ साल के बेटे के साथ शादी समारोह से शामिल होकर आगरा से भोपाल लौट रहे थे।
यह है पूरा मामला
-मप्र गवर्नमेंट के IT डिपार्टमेंट में इंजीनियर बैरागढ़ निवासी दीपक शर्मा अपनी पत्नी हेमलता और डेढ़ साल के बेटे देवांश के साथ आगरा से भोपाल लौट रहे थे। वे आगरा में शादी समारोह में शामिल होने गए थे। उनका रिजर्वेशन 12612 गरीब रथ केे जी-1 कोच में 58-59 नंबर पर सीट पर था। उनके बड़े भाई विवेक और अन्य फैमिली दूसरे कोच में बैठी थी।
-यह गाड़ी सोमवार शाम करीब 6 बजे आगरा से रवाना होकर एक घंटे की देरी से रात 1 बजे भोपाल स्टेशन पहुंची। दीपक के मुताबिक, ट्रेन में उनके बेटे को उल्टी-दस्त होने लगे थे। इसलिए उनकी वाइफ का पूरा ध्यान उस पर ही था।
-हम सभी भोपाल स्टेशन पर उतरकर घर के लिए निकल पड़े। अचानक ध्यान आया कि, ज्वैलरी का बैग तो ट्रेन में ही छूट गया है। बैग में करीब 2 लाख रुपए की ज्वैलरी थी। यह सोचकर हम सभी घबरा गए।
-तभी मेरे भाई विवेक ने रेल मंत्री सुुरेश प्रभु को इस घटना के बारे में ट्वीट किया। आधा घंटे बाद ही उनके पास भोपाल आरपीएफ से मैसेज आ गया कि, बैग उनके पास है।
-यह बैग किसी यात्री ने आरपीएफ को सौंपा था। सोमवार-मंगलवार की दरमियानी रात करीब 3.30 बजे ही आरपीएफ ने उन्हें बैग सौंप दिया।
हम गश्त कर रहे थे, तभी एक यात्री ने आकर बैग हमें दिया। उसने बताया कि, कोई यह बैग भूलकर चला गया है। जांच-पड़ताल के बाद बैग संबंधित व्यक्ति को सौंप दिया गया।


बेटी की तलाश में भटक रहा पिता, प्रेमी पर जताई हत्या की आशंका
Our Correspondent :21 Feb. 2017
भोपाल: छिंदवाड़ा के हर्रई से भोपाल पढ़ने आई 19 वर्षीय बेटी की तलाश में एक पिता ढाई महीने से भटक रहा है। छात्रा ने घर से भागकर एक युवक से शादी कर ली थी। प्रेमी तो मिल गया, लेकिन बेटी की कोई खबर नहीं मिल पा रही है। अखबारों में उदयन के बारे में पढ़ने के बाद घबराए पिता ने प्रेमी पर बेटी की हत्या की आशंका जताई है। वह हर्रई से लेकर भोपाल पुलिस तक में शिकायत कर चुका है।
गांधी चौक हर्रई, छिंदवाड़ा निवासी अनिल नेमा पिता रामप्रसाद नेमा की 19 वर्षीय बेटी भारती नेमा जुलाई 2016 में भोपाल आई थी। वह यहां पंचशील नगर में ममेरे भाई दीपक के साथ रह रही थी। उसने यूनिक कॉलेज में बी. कॉम प्रथम वर्ष में एडमिशन लिया था।
30 नवंबर को दीपक ने भारती के घर से गायब होने की सूचना उन्हें दी थी। करीब 9 दिन बाद हर्रई के ही राजकुमार डेहरिया (24) ने उन्हें फोन पर बताया कि उसने भारती से आर्य समाज मंदिर में शादी कर ली थी। उससे झगड़ा हुआ तो वह घर छोड़कर चली गई। अब उससे बात नहीं हो रही। अनिल ने राजकुमार पर भारती की हत्या कर लाश ठिकाने लगाने की आशंका जताई है।
टीटी नगर थाने में शिकायत
राजकुमार का फोन आने के बाद अनिल ने टीटी नगर थाने में शिकायत की। पुलिस ने राजकुमार को पूछताछ के लिए बुलाया था, लेकिन बाद में उसे छोड़ दिया। अनिल ने बताया कि अब तक भारती का पता नहीं चल पाया है। उसका मोबाइल भी तभी से बंद है।
2 फरवरी को अपडेट की फोटो
अनिल ने आरोप लगाया कि 2 फरवरी को राजकुमार ने उनकी बेटी की फोटो फेसबुक पर अपडेट की थी। उन्होंने पूछा तो उसने कहा भारती उसकी पत्नी है। उसे नहीं पता कि वह कहां है। उन्होंने हर्रई एसपी से भी शिकायत की है, लेकिन अब तक भारती का पता नहीं चल पाया है।


रिलायंस जियो ने टॉवर्स के लिए मुफ्त में जमीन हथियाई
Our Correspondent :20 Feb. 2017
भोपाल: रिलायंस जियो इंफोकाम ने प्रदेश में 4जी के टॉवर लगाने के लिए पुलिस थाने से लेकर शहर के प्रमुख स्थानों और चौराहों की जमीन मुफ्त में हासिल कर ली। यही नहीं, अब अपनी सेवाएं भी शुरू कर दी, लेकिन इसके एवज में छोटी सी शर्तों को भी कंपनी ने पूरा नहीं किया।
टॉवर पर स्ट्रीट लाइट, कैमरे, वाईफाई, सरकारी दफ्तरों को इंटरनेट कनेक्टिविटी और लोक हित में विज्ञापन की सुविधा कंपनी नहीं दी। नगर निगम और पुलिस समेत दूसरी एजेंसियों ने भी सिर्फ परमिशन देकर अपने हिस्से की सुविधाएं लेने से परहेज किया।
रिलायंस ने वर्ष 2013 से 2015 के दौरान भोपाल में 200 और पूरे प्रदेश में 3000 टॉवर सरकारी जमीनों पर लगाए थे। पुलिस समेत दूसरे सरकारी विभागों ने प्रदेश सरकार की 4जी ब्राडबैंड नीति के तहत रिलायंस को जमीन मुफ्त में मनमर्जी से टॉवर लगाने की अनुमति दी। इसी नीति के आधार पर एजेंसियों ने रिलायंस के साथ करार किए, जिसमें साफ लिखा था कि कंपनी को मुफ्त इंटरनेट कनेक्टिविटी समेत अन्य सुविधाएं मुहैया करानी होगी। एक साल के बाद भी किसी भी एजेंसी ने इन सुविधाओं की पूछताछ तक नहीं की।
हालांकि इंदौर में करार की आधी-अधूरी शर्तें पूरी कर कुछ चौराहों पर कैमरे लगाए गए हैं। एडीजी टेलीकाम अन्वेष मंगलम का कहना है कि कंपनी के साथ करार जरूर हुआ, लेकिन करार की शर्तों का पालन करने की जिम्मेदारी वह नहीं देखते हैं।
सरकारी जमीन नहीं मिलती तो देना होगा 12 हजार प्रति टॉवर किराया
दूसरे टेलीकॉम ऑपरेटर प्रति टॉवर के लिए निजी जमीन मालिकों को प्रति टॉवर 8 से 12 हजार रुपए तक का किराया दे रहे हैं। यानी 200 टॉवर्स के हिसाब से रिलायंस को हर साल करीब ढाई करोड़ रुपए की बचत हो रही है।
रिलायंस ने इनमें से कोई शर्त पूरी नहीं की
-तीन साल की वारंटी के साथ पुलिस की जमीन पर लगे प्रति टावर में रिलायंस तीन कैमरे लगाएगी
-नगर निगम, पुलिस कंट्रोल रूम, पुलिस स्टेशन आदि को 2 एमबीपीएस की कनेक्टिविटी देना
-दूसरे विभागों की जमीन पर लगे टावर में कैमरे लगवाने में मदद करना
-लोक हित में सरकारी विज्ञापन प्रदर्शित करना
राजस्थान में 6 प्रतिशत किराया देना होता है
उत्तरप्रदेश की तरह ही राजस्थान, हरियाणा समेत अन्य राज्यों में सरकारी जमीन का इस्तेमाल करने पर लीज रेंट चुकाना होता है। राजस्थान में कंपनियों को मुफ्त कनेक्टिविटी, कैमरा व पार्कों का विकास के साथ जमीन की कीमत का छह प्रतिशत सालाना किराया देना होता है।


पौने चार लाख शिक्षकों को नहीं मिल पाएगी गर्मी की छुट्टी
Our Correspondent :20 Feb. 2017
भोपाल: प्रदेश के 3 लाख 71 हजार 500 शिक्षकों को गर्मी की छुट्टी नहीं मिलेगी। राज्य सरकार इसके बदले शिक्षकों को अर्जित अवकाश (ईएल) देने पर विचार कर रही है। आयुक्त लोक शिक्षण संचालनालय ने शासन को प्रस्ताव भेज दिया है। इस पर इसी माह फैसला हो सकता है।
क्यों पड़ी जरूरत
प्रदेश में हर साल सरकारी स्कूल 16 जून से खुलते हैं, लेकिन अगस्त तक का समय शिक्षकों की ट्रेनिंग, छात्रवृत्ति, नि:शुल्क किताब, साइकिल, ड्रेस वितरण और स्वतंत्रता दिवस समारोह आदि में गुजर जाता है। ऐसे में सितंबर तक पढ़ाई का माहौल नहीं बन पाता। इसलिए गर्मी की छुट्टी न देकर ये सभी काम पहले ही निपटा लिए जाएं और 16 जून से ही पढ़ाई शुरू की जा सके।
अभी मिलती हैं 36 छुट्टी
शिक्षकों को अभी मई और जून माह में एक से डेढ़ माह का ग्रीष्मकालीन अवकाश दिया जाता है, वहीं 13 आकस्मिक अवकाश (सीएल) और तीन वैकल्पिक अवकाश दिए जाते हैं। 10 दिन फुल-पे मेडिकल और 10 दिन हॉफ-पे मेडिकल दिया जाता है। जबकि अन्य विभागों के कर्मचारियों को ग्रीष्म अवकाश न देकर साल में दो बार 15-15 दिन की ईएल दी जाती है।
शिक्षक भी हैं तैयार
ग्रीष्म अवकाश खत्म करने को लेकर शिक्षक संगठन भी तैयार हैं। मप्र शिक्षक कांग्रेस के प्रवक्ता आशुतोष पाण्डेय कहते हैं कि वैसे भी स्कूल चलें हम अभियान, उत्तर पुस्तिकाएं जांचने, जनगणना, पशुगणना, मतदाता परिचय पत्र पुनरीक्षण कार्य सहित अन्य अभियानों के कारण शिक्षकों को ग्रीष्म अवकाश का पूरा लाभ नहीं मिल पाता है। ईएल मिलने से ये फायदा होगा कि जब शिक्षक को जरूरत होगी, तब उसे छुट्टी मिल जाएगी।


पदोन्नति में आरक्षण का हल सरकार तलाशे : जेठमलानी
Our Correspondent :18 Feb. 2017
भोपाल: पदोन्नति में आरक्षण मामले का हल खुद सरकार को ढूंढ़ना चाहिए। दिक्कतें दोनों तरफ हैं। इसे लेकर आपस में दुश्मनी पैदा मत करो। मिल बैठकर इस विवाद को सुलझाया जा सकता है। दोनों पक्ष और सरकार में परस्पर बातचीत हो। एक-दूसरे की समस्या और जरूरत को महसूस करके हल निकालें।"
ये राय व्यक्त की है जाने-माने वकील व पूर्व केंद्रीय मंत्री राम जेठमलानी ने। वह शुक्रवार को राजधानी में पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि इस प्रक्रिया में कानूनी सलाह की जरूरत हो, तो मैं तैयार हूं। हालांकि व्यापमं से जुड़े सवालों पर वे कन्नी काट गए और कहा कि ऐसा नहीं कि हर विषय की मुझे जानकारी हो और मैं हर विषय पर बोल भी नहीं सकता।
देश की राजनीति की दिशा तय करेंगे यूपी चुनाव
जेठमलानी ने कहा कि उत्तर प्रदेश का चुनाव देश की राजनीति की दिशा तय करेगा। उन्होंने समाजवादी पार्टी की ओर से अखिलेश यादव को अच्छा प्रत्याशी बताया। उन्होंने कहा कि अखिलेश ने व्यक्तिगत रूप से बहुत बेहतर काम किया है।
दोनों सरकारों पर कालेधन वालों से मिलीभगत का आरोप
रामजेठमलानी ने पिछली और वर्तमान केंद्र सरकारों पर कालेधन वालों से मिलीभगत का आरोप लगाया। उन्होंने कहा मनमोहन सिंह ने स्विस सरकार से कालेधन पर कोई जानकारी नही मांगी थी। जर्मन सरकार ने 2008 में स्विस बैंक से 400 लोगों की लिस्ट निकालवाई थी और उसे भारत सरकार से साझा करने को भी तैयार थी, लेकिन भारत सरकार ने उसमें रुचि नहीं दिखाई। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी पर जनता से किए वादों में फेल होने का आरोप लगाया।



डाकघरों से अब होगा रोजगार पंजीयन, दिल्ली ने मांगा ब्योरा
Our Correspondent :18 Feb. 2017
भोपाल: राजधानी के मुख्य डाकघर सहित प्रदेश के जिला मुख्यालयों पर मौजूद डाकघर अब रोजगार केन्द्र के रूप में विकसित किए जाएंगे। इन केन्द्रों में बेरोजगारों का ऑनलाइन पंजीयन किया जाएगा। दिल्ली में औपचारिक निर्णय के बाद अब सभी राज्यों से प्रारंभिक जानकारियां मंगाई गई हंै।
विभागीय सूत्रों का कहना है कि इस बारे में अभी मंत्रालय स्तर पर ही निर्णय हुआ है। डाकघरों में इसके लिए सुविधाएं बढ़ाने के लिए प्रस्ताव मांगे गए हैं। रोजगार केन्द्र विकसित करने के लिए खासतौर पर एक सॉफ्टवेयर तैयार कराया जा रहा है।
इस सॉफ्टवेयर में बेरोजगारों की शिक्षा, जाति एवं अनुभव आदि का ब्योरा रखा जाएगा। केन्द्र सरकार ने इस मुद्दे पर सभी राज्यों से विस्तृत प्रस्ताव मांगे हैं। प्रारंभिक स्तर पर जिला मुख्य डाकघरों पर ही यह सुविधा विकसित होगी इसके बाद छोटे डाकघरों को रोजगार केन्द्र के रूप में संचालित किया जाएगा।
ऑनलाइन रखा जाएगा रिकार्ड
डाकघरों में खुलने वाले रोजगार केन्द्रों पर ऑनलाइन पंजीयन होने के सभी डाकघरों को सेंट्रल सर्वर से जोड़ दिया जाएगा। इसमें बेरोजगारों की शिक्षा-अनुभव आदि की जानकारी भी रखी जाएगी। पूरे डॉटा का शिक्षा एवं जिलेवार वर्गीकरण किया जाएगा। इस जानकारी की राष्ट्रीय स्तर पर भी निगरानी की जाएगी। सॉफ्टवेयर के लिए यूजर आईडी एवं पासवर्ड आदि तैयार किए जा रहे हैं।
कार्यालयों की भूमिका समाप्त
पहले सभी जिलों में रोजगार कार्यालय थे लेकिन उनकी उपयोगिता धीरे-धीरे समाप्त हो गई। शासकीय स्तर पर रोजगारों में कमी आने से भी रोजगार कार्यालयों की भूमिका प्रभावी नहीं रही। अब प्राइवेट नौकरियां ज्यादा निकल रही हैं। सभी कंपनियों की अपनी भर्ती व्यवस्था है, चुनिंदा कंपनियां कैम्पस इंटरव्यू कर लेती हंै।


माता-पिता की सालाना आय दस लाख रुपए तक तो मेधावी छात्र की फीस भरेगी सरकार
Our Correspondent :17 Feb. 2017
भोपाल: बारहवीं में 85 फीसदी से ज्यादा अंक लाकर आईआईटी, आईआईएम, एनएलआईयू जैसे उत्कृष्ट शिक्षण संस्थाओं में प्रवेश पाने वाले छात्रों की फीस सरकार चुकाएगी। इन्हें ये राशि लौटाना भी नहीं पड़ेगी। ये सुविधा सिर्फ उन्हीं छात्रों को मिलेगी, जिनके माता-पिता की सालाना आय दस लाख रुपए तक होगी। ये निर्णय सीएम मेधावी छात्र योजना को लेकर गुरुवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की समीक्षा में लिया गया।
सूत्रों के मुताबिक हनुवंतिया में अनौपचारिक कैबिनेट के दौरान मंत्रियों ने सीएम मेधावी छात्र योजना को लेकर तय किया गया था कि इसमें माता-पिता की आय सीमा का बंधन रखा जाएगा। इसके मद्देनजर तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग ने योजना के प्रावधानों में बदलाव कर नया मसौदा तैयार कर लिया है।
मंत्रालय में इसे गुरुवार को मुख्यमंत्री के सामने रखा गया। अधिकारियों ने बताया कि 85 प्रतिशत से ज्यादा अंक हासिल करके उत्कृष्ट शिक्षण संस्थाओं में प्रवेश पाने वाले छात्रों की फीस सरकार भरेगी। इसे छात्रों को लौटाना भी नहीं पड़ेगा। ये सरकार की ओर से अनुदान रहेगा।
अन्य संस्थानों में प्रवेश पर फीस लौटानी होगी
विभागीय अधिकारियों ने बताया कि उच्च स्तर के शिक्षण संस्थानों में भी प्रवेश लेने पर सरकार छात्रों की फीस भरेगी। इसके लिए छात्रों को कम से कम 85 प्रतिशत अंक लाने होंगे। जब छात्र की नौकरी लग जाएगी तो उसे सरकार की ओर से जमा की गई फीस को लौटाना पड़ेगा।


ाईकोर्ट का फैसला लागू पर सरकार दूध के दाम तय करने को तैयार नहीं
Our Correspondent :17 Feb. 2017
भोपाल: भोपाल सहकारी दुग्ध संघ ने सांची दूध के दामों में दो रुपए प्रति लीटर का इजाफा कर प्राइवेट डेयरी संचालकों का रास्ता साफ कर दिया है। अब वे दूध के दाम 46 से 48 रुपए प्रति लीटर तय कर बेच रहे हैं। फिर भी सरकार का मानना है कि वर्तमान में दूध के दाम तय करने की जरूरत नहीं है। वह भी तब, जब हाईकोर्ट का 10 साल पुराना वह फैसला फिर से लागू हो गया है, जिसमें कोर्ट ने राज्य सरकार को दूध के दाम तय करने के आदेश दिए थे।
ज्ञात हो कि भोपाल सहकारी दुग्ध संघ के अलावा राजधानी में 765 प्राइवेट डेयरी हैं, जो प्रतिदिन ढाई लाख लीटर दूध बेचती हैं। इनमें से कुछ ने दूध की क्वालिटी के आधार पर दाम तय कर रखे हैं। जबकि कुछ 50 और 55 रुपए प्रति लीटर में मिलावट रहित दूध बेचने का दावा करते हैं। पशुपालन विभाग भी 45 रुपए प्रति लीटर में करीब 500 लीटर गाय का दूध रोज बेचता है।
यह है मामला
मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने 17 जनवरी 2007 को फैसला सुनाते हुए राज्य सरकार को दूध के दाम तय करने का आदेश दिया था। कोर्ट ने कहा था कि दूध आवश्यक वस्तु अधिनियम की धारा-3(2)(सी) के तहत आता है और गरीबों को कम से कम दाम में मिल सके, इसलिए सरकार न्यूनतम रेट तय करे। ये फैसला नागरिक उपभोक्ता मंच के अध्यक्ष डॉ. पीजी नाजपांडे की जनहित याचिका पर आया था।
याचिका में कहा गया था कि आम आदमी आमतौर पर सांची दूध का 200 मिली का पैकेट खरीदता है। यही दूध उनके बच्चे पीते हैं। इसमें महज 1.5 फीसदी फेट होता है। प्राइवेट डेयरियों के सस्ते दूध में फेट की मात्रा इससे भी कम होती है। ऐसे में महंगा दूध खरीदना उनके लिए मुमकिन नहीं है।
आखिर नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता संरक्षण विभाग ने 13 अप्रैल 2007 को दूध के रेट 18 रुपए लीटर तय कर दिए थे। इसके खिलाफ जबलपुर के डेयरी संचालक सुप्रीम कोर्ट चले गए और अंतरिम स्थगन आदेश ले आए थे। हालांकि 25 जनवरी 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका को खारिज कर दिया। इसी के साथ हाईकोर्ट का फैसला प्रभावी हो गया।
कलेक्टर ने 44 रुपए लीटर तय किए दाम
सुप्रीम कोर्ट द्वारा प्राइवेट डेयरी संचालकों की याचिका खारिज करने के बाद जबलपुर कलेक्टर महेशचंद्र चौधरी ने दूध के दाम 44 रुपए प्रति लीटर तय कर दिए हैं। कलेक्टर ने जिले के फूड कंट्रोलर के प्रस्ताव पर 5 फरवरी को यह आदेश जारी किए। आदेश में लिखा है कि कोई भी 44 रुपए लीटर से ज्यादा दाम में दूध नहीं बेचेगा।


शरारत के लिए 108 नंबर लगाने वालों से दूसरों की जिंदगी जोखिम में
Our Correspondent :17 Feb. 2017
भोपाल: शरारत के लिए 108 नंबर पर फोन लगाने वाले किसी की जिंदगी जोखिम में डाल रहे हैं। कई लोग दुर्घटना में घायलों और मरीजों को अस्पताल पहुंचाने एंबुलेंस बुलाने 108 नंबर पर फोन करते हैं, लेकिन शरारती कॉल के फेर नंबर काफी देर तक व्यस्त मिलता है। उन्हें समय पर एंबुलेंस नहीं मिल पाती। इस बीच कइयों की जिंदगी ही खत्म हो जाती है। 108 में आने वाले 50 फीसदी से ज्यादा कॉल इसी तरह के हैं।
मंगलवार को एमपी नगर में एक मरीज के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। तबीयत खराब होने पर उसके साथियों ने लगातार 9 मिनट तक 108 पर फोन लगाया, लेकिन नंबर व्यस्त ही रहा। उसे ऑटो से अस्पताल पहुंचाया गया।
6 बार लगाया फोन
एमपी नगर स्थित एक निजी कंपनी में काम करने वाले संजीव द्विवेदी (44) को मंगलवार शाम चक्कर आ गया। 108 एंबुलेंस बुलाने 7:49 से 7:58 बजे तक मोबाइल नंबर 7987201385 से 6 बार 108 पर फोन लगाने की कोशिश की गई, लेकिन फोन नहीं लगा। जिसके चलते उन्हें ऑटो से एक निजी अस्पताल ले जाया गया। 9 मिनट तक यही जवाब मिला कि यह नंबर अभी व्यस्त है।
कॉल लगते नहीं
हेल्थ हेल्प लाइन में डॉक्टरों से अपनी बीमारी के बारे में सलाह लेने के लिए राम सिंह यादव ने मोबाइल नंबर 9425007262 से 108 नंबर पर मंगलवार शाम 7 बजे के करीब फोन लगाया। दो बार फोन नहीं लगा। करीब दो मिनट बाद उन्होंने दोबारा फोन किया। इसके बाद उनकी डॉक्टरों से बातचीत हुई। उन्हें महीने भर से सर्दी-जुकाम है। उन्होंने डॉक्टरों से बचाव के उपाय पूछे।
दो महीने से शिकायत : 108 नंबर व्यस्त होने की शिकायतें पिछले दो महीने से खासी बढ़ गई हैं। पीड़ितों ने बताया कि एक बार में तो कभी फोन लगता ही नहीं है। बताया जा रहा है कि 108 पर काफी कॉल बढ़ गए हैं, लेकिन रिसीव करने वाली लाइन सिर्फ 90 हैं। इससे अधिक कॉल होने पर लाइन व्यस्त बताती है।
हेल्थ हेल्पलाइन शुरू, एक दिन में 100 कॉल भी नहीं
पूरे प्रदेश के लिए हेल्थ हेल्पलाइन सेवा सोमवार से शुरू हो गई है। 108 और 104 नंबर डॉयल करने पर डॉक्टरों से बीमारी के बारे में सलाह, काउंसलिंग, दवाओं की जानकारी, प्रेगनेंसी के दौरान रखी जानी वाली सावधानी की जानकारी ली जा सकती है। पहली बार फोन करने वाले का पूरा प्रोफाइल बनाया जाता है और फोन नंबर रजिस्टर्ड किया जाता है। प्रोफाइल बनाने में करीब 4 मिनट लग रहे हैं।
पैरामेडिकल स्टाफ मरीज से पूरी जानकारी लेने को कॉल फारवर्ड कर देते हैं। यहां अभी हर दिन 100 कॉल भी नहीं है। डॉक्टर और पैरामेडिकल मिलाकर करीब 15 सीट वाला कॉल सेंटर हेल्थ हेल्पलाइन के लिए बनाया गया है।
फर्जी कॉल्स की वजह से हो रही समस्या
108 का संचालन करने वाली चिकित्सा हेल्थ केयर के डायरेक्टर मनीष सचेती ने बताया कि पहले 108 का 40 सीट का कॉल सेंटर था। बाद कॉल सेंटर 90 सीट वाला कर दिया गया है। बावजूद इसके समस्या खत्म नहीं हो रही। उन्होंने बताया कि रोजाना करीब 6 हजार फर्जी काल आते हैं, जिस कारण लाइन व्यस्त हो जाती है। उन्होंने कहा कि कॉल की सीटें बढ़ाने की बजाए फर्जी कॉल्स बंद करने पर ध्यान दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि रोजाना करीब 2500 कॉल ही जरूरतमंदों के होते हैं बाकि फर्जी होते हैं।


टीचर का साहस, लुटेरे ने काटा, नोचा पर नहीं छीन पाया मोबाइल
Our Correspondent :16 Feb. 2017
भोपाल: पैदल घर लौट रही आईपीएस स्कूल की म्यूजिक टीचर पर झाड़ियों में छिपे एक बदमाश ने हमला बोल दिया। हमला अचानक हुआ पर जवाब देते हुए टीचर भी लुटेरे से भिड़ गई। बदमाश 10 मिनट तक पीड़िता से मोबाइल लूटने के लिए छीना-झपटी करता रहा, लेकिन जब मंसूबों में कामयाब नहीं हो पाया तो टीचर के हाथ, चेहरे को दांतों से काट झाड़ियों में धक्का देकर भाग गया।
खून से लथपथ पीड़िता को पड़ोसियों ने अस्पताल में भर्ती कराया। अहमदपुर नहर के पास हुई इस घटना की सूचना के बाद बुधवार को एसपी अरविंद सक्सेना घायल से मिले। उन्होंने आरोपी को जल्द से जल्द पकड़ने का आश्वासन दिया।
सी-9 फॉर्चून डिलाइट कैंपस, बागसेवनिया निवासी 27 वर्षीय तान्या भदौरिया (27) पिता रविंद्र सिंह भदौरिया आईपीएस स्कूल में म्यूजिक टीचर हैं। जैसा तान्या के बड़े भाई सौरभ सिंह भदौरिया ने बताया 'मंगलवार रात करीब पौने 8 बजे तान्या पैदल घर की तरफ आ रही थी। बागसेवनिया थाने से आगे अहमदपुर नहर के पास अंधेरा होने के कारण उसने मोबाइल फोन की टॉर्च ऑन की।
चंद कदम आगे बढ़ते ही एक बदमाश ने पीछे से आकर उसके हाथ से मोबाइल फोन लूटने का प्रयास किया। तान्या ने हाथ में लिए बैग उसे मारा। पलटवार से सकते में आए लुटेरे ने मोबाइल फोन छुड़ाने के लिए तान्या के हाथ को दांतों से काट दिया। तान्या ने भी आरोपी के हाथ में काटते हुए उसे लात मारी। करीब 10 मिनट तक वह बदमाश से लोहा लेती रही। लूटने में नाकाम आरोपी ने खुद को छुड़ाने के लिए दोबारा तान्या के हाथ को काटने का प्रयास किया, लेकिन इस बार तान्या ने हाथ को मुंह की तरफ कर दिया, जिससे आरोपी के दांत तान्या की नाक में लग गए और उसे गहरा घाव हो गया।
तान्या के शोर करने पर आरोपी उसे झाड़ियों में धक्का देकर भाग निकला। किसी तरह तान्या झाड़ियों से निकलकर घर पहुंची, तो पड़ोसी अपनी बेटी के साथ उसे बागसेवनिया थाने ले आए। यहां से उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया।' सौरभ ने बताया कि तान्या के फोन से पड़ोसी ने घटना की सूचना दी थी। पुलिस ने देर रात अज्ञात आरोपी के खिलाफ लूट समेत अन्य धाराओं में प्रकरण दर्ज कर लिया, लेकिन बदमाश का पता नहीं चल पाया है।
20 से 22 साल का आरोपी
सौरभ ने बताया कि मारपीट के दौरान तान्या ने आरोपी के मुंह पर टॉर्च से रोशनी की थी। आरोपी की उम्र 20 से 22 साल के बीच रही होगी। बदमाश गोरा, दुबला-पतला और क्लीन शेव था।
बोल नहीं पा रही
घटना के बाद से ही तान्या दहशत में है। चेहरे पर चोट होने के कारण उसे बोलने में काफी तकलीफ हो रही है। चेहरे, हाथ और घुटने समेत शरीर में कई अन्य जगह चोटें आई हैं।
लाइट नहीं होने से हो रही परेशानी
स्थानीय लोगों के आरोप है कि थाने के इतने पास घटना होने का कारण इस मार्ग पर स्ट्रीट लाइट का नहीं होना भी है। सुनसान रास्ता होने से यहां बदमाशों की गतिविधियां चलती रहती है। पुलिस की लगातार गश्त नहीं होने से बदमाश ज्यादा सक्रिय रहते हैं।


बोट क्लब पर दिखेगा भोपाल के 1 हजार साल का इतिहास
Our Correspondent :16 Feb. 2017
भोपाल: महापौर के 2 साल पूरे होने पर शहरवासियों को सौगात
राजधानी में नगर सरकार के दो साल पूरे होने पर नगर निगम शहर को एक अनूठी सौगात देने जा रहा है, जिससे शहर का सौन्दर्य और बढ़ जाएगा। बोट क्लब पर आज महापौर आलोक शर्मा तकरीबन 6.5 करोड़ की लागत से बनने वाले म्युजिकल फाउंटेन का भूमिपूजन कर रहे हैं। इस मौके पर देश के पहले वॉटर स्क्रीन पर राजधानी का एक हजार साल का इतिहास दिखाया जाएगा। इसमें राजा भोज, रानी कमलापति से लेकर नवाबकालीन भोपाल की जानकारी होगी जो सैलानियों के लिए आकर्षण का बड़ा केन्द्र होगा। वॉटर स्क्रीन और म्युजिकल फाउंटन के प्रोजक्ट प्रभारी ओपी भारद्वाज का कहना है कि इससे जगह का और बेहतर उपयोग होगा एवं विश्व स्तरीय वॉटर स्क्रीन के जरिए उनको सब कुछ जानने का मौका मिलेगा।
इसलिए चुना गया बोट क्लब
बोट क्लब राजधानी में आने वाले सैलानियों के घूमने का मुख्य स्थान होता है, जहां से उनको न केवल तालाब के सौन्दर्य की जानकारी मिलती है बल्कि इसके साथ साथ उन्हें वॉटर स्पोर्ट्स और क्रूज में सवारी का भी मौका मिलता है।
क्या-क्या होगा खास
बोट क्लब पर 60 बाय 100 साइज की वॉटर स्क्रीन बनाई जाएगी।
इस प्रोजेक्ट की लागत लगभग 6.5 करोड़ रुपए आएगी ।
पानी की स्क्रीन होगी जो नोजल जेट के जरिए चलाया जाएगा ।
यहां लगने वाला पूरा वॉटर स्क्रीन थ्री डायमेंशनल होगा ।
वॉटर स्क्रीन मौसम के हिसाब से अपना रंग बदलेगा जो आकर्षण का केंद्र होगा।
बैकग्राउंड म्यूजिक भारतीय परम्परा से जुड़े रागों पर आधारित होगा।
इन राजवंशों के बारे में जान सकेंगे आप
भोपाल का इतिहास बहुत पुराना है। यहां पर राजा भोज, गौंड वंश, रानी कमलापति, प्रतिहार राजवंश एवं नवाबी शासनकाल को दिखाया जाएगा। पुूरातत्व विशेषज्ञ संगीत वर्मा ने इसकी रूपरेखा तैयार की है। यह पहला मौका है जब वॉटर फाउंटेन में पूरी की पूरी हिस्ट्री नजर आएगी। इससे शहरवासियों और सैलानियों को भोपाल के इतिहास के बारे में जानकारी मिल सकेगी। अब तक नई पीढ़ी भोपाल को सिर्फ नवाबी शासनकाल से जोड़कर देखती है।


बिजली कर्मचारियों की चेतावनी, बोर्ड परीक्षा के दौरान कर देंगे ब्लैक आउट
Our Correspondent :16 Feb. 2017
भोपाल: हम किसी का नुकसान नहीं चाहते, लेकिन मार्च तक नियमित नहीं किया तो बोर्ड परीक्षाओं के दौरान प्रदेश भर में ब्लैक आउट कर देंगे। बच्चों को परीक्षाओं की तैयारी करने में दिक्कत आएगी और कंपनी को भी रेवेन्यू नहीं मिलेगा। बुधवार को यह बात छोला दशहरा मैदान में संविदा बिजली कर्मचारियों ने कही। प्रदर्शन में प्रदेश की पांचों बिजली कंपनी के संविदा पर रखे गए बिजली कर्मचारियों ने हिस्सा लिया।
मप्र संविदा कर्मचारी अधिकारी महासंघ के रमेश राठौर ने कहा पांचों कंपनियों में 10 हजार से अधिक कर्मचारी संविदा पर काम कर रहे हैं। जिसमें जेई, एई, लाइनमेन, टेस्टिंग सहायक, स्टेशन ऑपरेटर, कॉल सेंटर सहायक व रेवेन्यू वसूली करने वाले कर्मचारी शामिल है जो पिछले 10 साल से बेहतर सेवा देने में सहायक है। फिर भी उन्हें नियमित नहीं किया जा रहा है। पांचों कंपनियों में यही स्थिति है। संविदा पर रखे गए कर्मचारियों पर नियमित कर्मचारियों की तुलना में अधिक दबाव है। फिर भी ये कर्मचारी प्रदेश भर में बेहतर सप्लाई दे रहे हैं। रेवेन्यू वसूली का टॉरगेट भी पूरा किया जा रहा है उसके बावजूद भी कर्मचारियों को नौकरी से निकाला जा रहा है, नियमित करने पर कोई विचार नहीं हो रहा है।
रमेश राठौर ने चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार मार्च तक कर्मचारियों की समस्याओं का निराकरण नहीं करती है तो ब्लैक आउट का रास्ता अपनाना पड़ेगा। मप्र यूनाईटेड फोरम फॉर पावर इम्प्लाइज एवं इंजीनियर्स के संयोजक व्हीकेएस परिहार ने कहा कर्मचारियों की मेहनत के बाद अटल ज्योति योजना में गांव-गांव तक बिजली पहुंची। उसी की बदौलत भाजपा की सरकार बनी और वहीं सरकार कर्मचारियों को भूल गई है। मांगें पूरी नहीं की तो ऐसी सरकार को बिजली कर्मचारी सबक सिखाना भी जानते हैं।


कमलनाथ, सिंधिया भोपाल में पहली बार एक साथ करेंगे कांग्रेस का शक्ति प्रदर्शन
Our Correspondent :15 Feb. 2017
भोपाल: पूर्व केंद्रीय मंत्री कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया राजधानी में पहली बार एक साथ शक्ति प्रदर्शन करने जा रहे हैं। दोनों को जनता के बीच में पहली बार भोपाल के लोग एक मंच पर 22 फरवरी को देख सकेंगे। इस दिन कांग्रेस विधानसभा का घेराव करने जा रही है। जिसमें इन दोनों दिग्गजों के अलावा पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, मोहन प्रकाश, कांतिलाल भूरिया, विवेक तन्खा सहित भी एक मंच पर दिखाई देंगे।
इस मंच पर सभी दिग्गिजों को एक साथ ही कांग्रेस की मिशन 2018 की तैयारी शुरू मानी जा रही है। इस घेराव के लिए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने पिछले पांच दिनों में विदिशा, सागर, दमोह, सीहोर, देवास और रायसेन जिलों का दौरा किया है। इन जिलों में उन्होंने जनवेदना पंचायत के साथ ही 22 फरवरी को होने वाले विधानसभा घेराव को लेकर बैठके ली हैं। उनकी टीम भी पूरी ताकत से इस घेराव में ज्यादा से ज्यादा भीड़ जुटाने में लगी हुई है।
अब तक भोपाल में कमलनाथ और सिंधिया एक साथ पीसीसी के अंदर ही साथ दिखाई दिए हैं। यह पहला मौका होगा जब वे भोपाल के टीन शेड पर जनता के बीच में दिखाई देंगे। उधर कमलनाथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह, सुरेश पचौरी के समर्थक भी इस घेराव में ज्यादा से ज्यादा भीड़ जुटाने में जुट गए हैं। सिंधिया ने प्रदेश टुडे से चर्चा करते हुए कहा है कि वे 22 फरवरी को भोपाल आ रहे हैं। कमलनाथ का भी कार्यक्रम तय हो गया है वे 21 फरवरी को विशेष विमान से भोपाल आएंगे।


मप्र में भाजपा सरकार के खिलाफ पुजारियों का अद्वितीय धरना प्रदर्शन
Our Correspondent :15 Feb. 2017

भोपाल: मप्र में भाजपा की शिवराज सरकार के खिलाफ पुजारियों एवं साधु संतों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया है। कमलापार्क में प्रदर्शन कर रहे संत समाज का कहना है कि मप्र सरकार एक अध्यादेश लाने जा रही है, जिसके तहत सभी मंदिर सरकार द्वारा अधिग्रहित कर लिए जाएंगे और यह हमें मंजूर नहीं।
भूमि का अधिग्रहण करने जा रही है और इसके बाद जिला कलेक्टर मंदिरों का प्रबंधन कार्य संभालेंगे। मध्य प्रदेश में मंदिरों और उनके प्रबंधन पर नियंत्रण करने के लिए राज्य सरकार द्वारा अध्यादेश लाने के प्रयासों का विरोध करते हुए प्रदेश के विभिन्न भागों से आए साधु-संतों ने राजधानी भोपाल के कमला पार्क में धरना आंदोलन और हवन किया।
उन्होंने कहा, ‘‘हमें यह मंजूर नहीं है। हम बुधवार तक यहां धरने पर बैठेंगे। यदि प्रदेश की भाजपा सरकार ने इस अध्यादेश को रोकने का वादा नहीं किया तो हम यहां से उठकर उत्तर प्रदेश जाएंगे और वहां चल रहे विधानसभा चुनावों में भगवा पार्टी के विरोध में प्रचार करेंगे।
सिर्फ आश्वासन ही मिले
एडीएम जीपी माली व एसपी नॉर्थ अरविंद सक्सेना ने यहां पहुंच कर संतों से चर्चा की। कम्प्यूटर बाबा ने इस दौरान उन्हें अपनी मांगें गिनाईं। इस दौरान संत सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। उन्होंने आरोप लगाया कि पूर्व में प्रमुख सचिव संस्कृति मनोज श्रीवास्तव, मंत्री यशोधरा राजे व मुख्यमंत्री से कई बार मिल कर उन्हें ज्ञापन दे चुके हैं पर आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला।
तांडव करने की चेतावनी
संतों ने अफसरों से कहा कि मांगे पूरी नहीं हुईं तो बुधवार शाम धरना खत्म कर उत्तर प्रदेश रवाना होंगे, जहां वे चुनाव में भाजपा सरकार के खिलाफ प्रचार करेंगे। उन्होंने जाते समय ताण्डव करने की बात कहते हुए अफसरों की पेशानी पर बल ला दिया।
बंदूक समेत दिया धरना
इंदौर के महंत शत्रुघ्नदास आकर्षण का केंद्र थे। उनके कंधे पर बंदूक टंगी थी। धरने में साध्वी चैतन्या और साधवी लक्ष्मी समेत गुफा मंदिर के महंत चंद्रमादास त्यागी, विश्व ब्राह्मण समाज संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष पं. योगेंद्र महंत, बाबा राधे-राधे, दुर्गादास, महंत नवीनानंद मौजूद रहे। संतों को सड़क पर आंदोलन करता देख वहां से गुजरने वाले लोग दिन भर रुकते रहे। कई लोग तो वाहन सड़क पर खड़ी कर आंदोलन देखने रुके रहे। इस कारण सड़क पर जाम लगता रहा।
ये हैं प्रमुख मांगें
मठ-मंदिरों का प्रबंधक कलेक्टर को हटाकर सरकारीकरण रोका जाए।
मठ-मंदिरों के संबंध में सरकार द्वारा लाए जा रहे विधेयक को निरस्त किया जाए।
मंदिरों की भूमि पर किए गए अतिक्रमण हटाए जाएं।
मंदिरों की कृषि भूमि की नीलामी पर स्थाई रूप से रोक लगाई जाए।
गौचर भूमि को मुक्त कराकर गौ शालाओं को दी जाए व गुरू-शिष्य परंपरा का ध्यान रखते हुए मंदिरों में पुजारी व उत्तराधिकारी के नामांतरण की नीति बनाई जाए।


'भोपाल एनकाउंटर मेरे आदेश पर हुआ था'
Our Correspondent :15 Feb. 2017
भोपाल: खबरों के अनुसार शिवराज सिंह चौहान ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि सिमी कार्यकर्ताओ का एनकाउंटर उनके आदेश देने पर ही अंजाम दिया गया था। उन्होंने भाजपा सरकार का रोब झाड़ते हुए कहा कि सिमी के लोगों के यह नहीं मालूम था की मध्य प्रदेश में भाजपा की सरकार है।
शिवराज ने आगे बात करते हुए कहा कि हमने मुख्यमंत्री बनते ही सारे गुंडों को जेल में डाल दिया या ऊपर पंहुचा दिया है। सिमी के कार्यकर्ता जेल से भागे तो हमने धड़ाधड़ फैसला लेकर उनका एनकाउंटर करवा दिया। आज जेल में कैदी भागने के बजाए बैरक की चाभी जेलर को दे देते हैं कि हम यहीं सुरक्षित हैं।
शिवराज ने जनसभा में भाजपा की उपलब्धिया को गिनाते हुए कहा कि सरकार ने यहाँ किसानो को बिना ब्याज के कर्ज दिया है। अगर यूपी में भी भाजपा की सरकार आती है तो वहां भी किसानों को जीरो दर पर कर्ज दिया जाएगा। शिवराज ने प्रधानमंत्री की भी प्रशंशा करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री भारत माता के लाल हैं जिन्होंने गरीबो को गैस चूल्हा दिया ताकि उन्हें परेशानी न हो।
शिवराज ने यूपी चुनाव पर बात करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश को सपा ने उतम प्रदेश की जगह पुत्तम प्रदेश बना दिया हैं। सपा सरकार में गुंडे ही नेता बन गए है।


भोपाल शताब्दी में लगेंगी दिव्यांग आर्टिस्ट की पेंटिंग
Our Correspondent :14 Feb. 2017
भोपाल: कोई ताज्जुब नहीं कि आने वाले मई माह तक भोपाल शताब्दी एक्सप्रेस मूविंग आर्ट गैलरी में बदल जाए। उत्तर रेलवे इसके लिए एक अनूठा प्रयोग कर रहा है। इसके तहत दिव्यांग कलाकारों द्वारा बनाई गई एक्रीलिक और आॅइल पेंटिंग को शताब्दी में लगाया जाएगा। रेलवे ने इसके लिए इंडियन माउथ एण्ड फूट पेंटिंग आर्टिस्ट (आईएमएफपीए) से संपर्क किया है।
सूत्रों के अनुसार रेलवे चाहता है कि यात्रियों को नयनाभिराम दृश्य देखने के लिए सिर्फ खिड़की के बाहर न झांकना पड़े या वे सिर्फ मोबाइल स्क्रीन पर ही नजर न गड़ाए रहें, इसीलिए दिव्यांग कलाकारों की पेंटिंग को भोपाल शताब्दी में लगाया जाएगा। इससे दो उद्देश्य पूरे होंगे। एक तो यात्रियों को कला का अलग परिवेश मिलेगा, वहीं दिव्यांग कलाकारों की भी आर्थिक मदद हो जाएगी।
ट्रेन में लगेंगे करीब 300 चित्रों के डिजीटल प्रिंट
आईएमएफपीए शताब्दी के लिए करीब 300 पेंटिंग्स बनवाएगा। ये पेंटिंग ओरिजनल न होकर हाई क्वालिटी की डिजीटल प्रिंट होंगे। शताब्दी में उपलब्ध स्पेस की ही पेंटिंग डिस्प्ले होंगी। प्रकृति, पर्यावरण और रेलवे के इतिहास को बताती इन पेंटिंग पर दिव्यांग कलाकार का नाम भी होगा। रेलवे अधिकारियो के अनुसार कोच के अंदर प्रवेश करते ही यात्री को रेलवे के कोचों की परंपरागत स्टाइल के अलावा अलग फीलिंग आएगी। इन पेटिंग से प्राप्त धन राशि से दिव्यांग कलाकारों का पुनर्वास होगा। यदि यह कोच सफल रहा तो इसे राजधानी सहित अन्य गाड़ियों के एसी फर्स्ट क्लास में भी लगाई जाएंगी।


पढ़ने की ऐसी ललक कि नौ इंच चौड़े खंभे पर चढ़कर जाते है स्कूल
Our Correspondent :14 Feb. 2017
भोपाल: अल सुबह जब राजधानी के पॉश इलाकों में चिकनी सड़कों पर अधिकारी जॉगिंग कर रहे होते हैं, ठीक उसी क्षण करीब 35 किमी दूर दर्जनों बच्चे पढ़ने की ललक के साथ मात्र नौ इंच चौड़ी लकड़ी पर चलते हुए जान जोखिम में डालकर स्कूल की ओर बढ़ रहे होते हैं।
मंडीदीप के पोलाहा गांव की ऐसी सुबह कोई नई नहीं। सुबह से रात तक महिलाएं, किसान और बुजुर्ग तक इसी लकड़ी और इससे बंधी रस्सी के सहारे गांव से बाहर निकल पाते हैं। यहां पुल की जरूरत है, पर शासन ने ध्यान नहीं दिया। राजधानी में वीआईपी इलाकों की सड़कों के गड्ढों को भरने के बजाय सड़क की नई परत बिछाने वाले शासन का ध्यान इधर नहीं गया है।
पांच साल में कई हादसों के गवाह रहे पोलाहा और पास के गांव बंदोरी और सुरैया नगर के करीब सात हजार लोगों की मजबूरी है कि इस पुलनुमा लकड़ी से न गुजरना चाहें तो उन्हें करीब 14 किमी दूरी तय करनी पड़ेगी।
अस्थायी व्यवस्था बनी नासूर
मंडीदीप से पांच किमी दूर पोलाहा गांव में पांच साल पहले केरवा नदी पर स्टॉप डैम बना, पर पुल के नाम पर नदी के बीच खंभे बने। 40 फीट के पुल के इंतजार में इस पर इन पर सीमेंट के खंभे रख दिए गए हैं और दोनों किनारों के पेड़ पर रस्सी बांध दी गई। जिसे पकड़कर लोग आते जाते हैं। स्टॉप डैम के चलते नदी में 7-8 फीट पानी भरा रहता है।
14 किमी का चक्कर
पोलाहा क्षेत्र में ज्यादातर लोग सब्जियों की पैदावार पर निर्भर हैं। उपज लेकर बाजार जाने के लिए भी उन्हें इसी पुल से गुजरना होता है। जब स्टॉप डैम नहीं बना था तो सामान लाने-ले जाने के लिए वाहन किराया 200 रुपए लगता था, लेकिन अब करीब 14 किमी का चक्कर काटकर आना पड़ता है। इस कारण किराया करीब 1500 रुपए लग जाता है। पुल न होने की वजह से ग्रामीणों का आर्थिक नुकसान भी हो रहा है।
जा सकती है जान
ग्रामीणों ने बताया कि कई बार महिलाएं और बुजुर्ग नदी में गिर चुके हैं। उन्हें गंभीर चोंटें आई हैं। अगर इसमें बच्चे गिर जाएं तो यह उनकी जान पर भारी पड़ सकता है। खास बात यह है कि पुल जिन खंभों से बनाया गया है उसका पिछला हिस्सा तो 9 इंच का है, लेकिन अगला हिस्सा करीब पांच इंच ही है। ऐसे में चलने में भी बहुत दिक्कत होती है।
तीन गांव प्रभावित
पोलाहा की आबादी करीब पांच हजार है। इससे लगे दो गांव बंदोरी और सुरैया नगर के लोग भी इसी पुल का उपयोग करते हैं। वहां की आबादी करीब दो हजार है। यानी कुल सात हजार लोग इस पर निर्भर हैं। बारिश के दिनों में अक्सर हादसे होते है। दो-तीन बार लोग नदी में गिर चुके हैं।



लड़ते हैं मम्मी-पापा, नहीं कर पाता पढ़ाई
Our Correspondent :14 Feb. 2017
भोपाल: मैडम, मेरे मम्मी-पापा बहुत ज्यादा बहस करते हैं। आए दिन झगड़ने लगते हैं। इस वजह से मैं पढ़ ही नहीं पाता हूं। क्या करूं? कुछ ऐसे सवाल माध्यमिक शिक्षा मंडल की छात्रों के लिए शुरू की गई हेल्पलाइन में छात्र पूछ रहे हैं। बोर्ड परीक्षाएं 1 मार्च से शुरू हो रही हैं। इनमें करीब 17 लाख परीक्षार्थी शामिल होंगे।
मंडल के हेल्पलाइन सेंटर में रोजाना औसतन 300 फोन आ रहे हैं। अब तक करीब 3200 छात्रों के फोन आ चुके हैं। ज्यादातर छात्र अच्छे नंबर से पास होने को लेकर सुझाव मांगते हैं, वहीं कुछ ऐसे भी हैं जो घर में होने वाली कलह से परेशान हैं। हाल ही में एक छात्र ने फोन लगाकर पूछा कि मम्मी-पापा की नहीं बनती। इसका असर उसकी पढ़ाई पर पड़ता है।
तनाव के कारण वह पढ़ नहीं पाता। वह अच्छे नंबर से कैसे पास हो पाएगा। काउंसलर्स बच्चों को तो परामर्श देते हैं, कई मामलों में उनके अभिभावकों की भी काउंसलिंग की गई है। संभव हुआ तो उन्हें भोपाल बुलाया गया है। नहीं तो फोन पर भी काउंसलिंग की जा रही है।
फेसबुक और वाट्सएप से भी तनाव
कुछ छात्रों ने यह भी पूछा कि वे सोशल मीडिया की वजह से तनाव में हैं। जब पढ़ने बैठते हैं तो दिमाग में वाट्सएप और फेसबुक चेक करने का मन करता है। इस वजह से वे एकाग्र होकर पढ़ नहीं पाते। उन्हें हर पल अपना फेसबुक प्रोफाइल देखने का मन करता है। यही नहीं, कुछ ने अपने अफेयर का असर पढ़ाई पर पड़ने को लेकर भी सवाल पूछे हैं।
पापा डालते हैं दबाव
एक छात्र ने बताया कि उसके पापा बहुत ज्यादा दबाव डालते हैं। अगर उनकी इच्छा के मुताबिक नंबर नहीं ला पाया तो वे बहुत नाराज होंगे। खास बात यह है कि शहरी क्षेत्रों के छात्रों की चिंता जहां अच्छे नंबर लाने की है वहीं ग्रामीण इलाकों के ज्यादातर छात्र इस बात से चिंतित हैं कि वे गणित और इंग्लिश में कैसे पास होंगे। उन्हें इन विषयों में बहुत परेशानी हो रही है।
करना पड़ता है घर का काम
कुछ छात्राओं ने काउंसलिंग में यह भी बताया कि उन पर छोटे भाई-बहन को संभालने की जिम्मेदारी है। घर का काम करना पड़ता है। ऐसे में उनकी पढ़ाई प्रभावित होती है। वे क्या करें ताकि वे अच्छे नंबरों से पास हो जाएं। हेल्पलाइन में नीता तिवारी, कविता चौबे, नीतू शर्मा, अंजना चौबे, शबनम खान आदि काउंसलिंग कर रही हैं। काउंसलर्स के मुताबिक एक-दो बार जब छात्र बात कर लेते हैं, उसके बाद उनका भरोसा बढ़ता है और वे अपनी समस्या को खुलकर बता पाते हैं।
काउंसलर्स दे रहे सलाह
- अच्छा सोचें और अपनी ओर से पूरी मेहनत करें।
- परेशानी को छोड़ अपनी पढ़ाई पर करें फोकस।
- घबराहट या बेचैनी होने पर लंबी सांस लेकर छोड़ें, यह प्रक्रिया कई बार करें।
- नींबू पानी शक्कर डालकर लें।
- तला हुआ, फास्ट फूड आदि खाने से बचें।
- अगर कोई परेशानी बनी हुई है तो फिर फोन लगाएं।
इन नंबरों पर करें कॉल
हेल्पलाइन सुबह 8 से रात 12 बजे तक काम करेगी। छात्र यहां फोन नंबर 0755-2570248, 2570258 और मोबाइल नंबर 9424495482, 9424495483 पर संपर्क कर सकते हैं।


जिसके लिए घर छोड़कर गई, उसी से छुड़वाना पड़ा
Our Correspondent :13 Feb. 2017
भोपाल: नजीराबाद इलाके में 21 वर्षीय एक युवती के अपहरण और बंधक बनाकर जबरन शादी कर ज्यादती का मामला सामने आया है। पीड़िता करीब 8 महीने पहले घर पर 'अपनी मर्जी से जा रही हूं' छोड़कर गायब हो गई थी। उसके बाद उसे डायल-100 ने आरोपी के चुंगुल से छुड़ाया था, लेकिन कोई मामला दर्ज नहीं किया गया था। पिता ने न्यायालय में परिवाद लगाया था, जिसके बाद पुलिस ने तीन युवतियों समेत 4 पर मामला दर्ज कर लिया।
बैरसिया एसडीओपी बीना सिंह ने बताया कि 21 वर्षीय युवती गत 18 अप्रैल को घर से गायब हो गई थी। परिजनों ने नजीराबाद थाने में उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई थी। कुछ महीने बाद युवती ने डायल-100 को फोन किया। पुलिसकर्मी के नजीराबाद पुलिस से संपर्क करने पर सामने आया कि वहां युवती की गुमशुदगी दर्ज है। पुलिसकर्मी युवती और उसे बंधक बनाकर रखने वाले सभी को पकड़कर नजीराबाद थाने ले आई।
वह रावण गांव में जितेंद्र तिवारी के घर मिली थी। पूछताछ में पीड़िता ने बयान दिया कि वह अपनी मर्जी से गई है। इसके बाद पिता ने न्यायालय में एक परिवाद लगाया था। वहां से आदेश होन पर नजीराबाद पुलिस ने शनिवार को जितेंद्र तिवारी, उसकी बहन प्रियंका और पीड़िता की सहेलियों पूजा और चिंता पर मामला दर्ज कर लिया है।
परिवाद में लिखा गया है कि पूजा और चिंता ने उसे चाय में नशीला पदार्थ खिला दिया। होश में आई तो वह भोपाल में थी। जितेंद्र अपनी बहन प्रियंका के साथ मिलकर उसे भोपाल के आर्य समाज मंदिर ले आए। यहां उससे जबरन शादी की गई। एसडीओपी सिंह ने बताया कि सितंबर माह में जब युवती दस्तयाब हुई थी तो वह गर्भवती थी। पुलिस के दस्तावेज में भी यह बात दर्ज है, लेकिन पीड़िता का गर्भपात किया जा चुका है। हम इसकी भी जांच कर रहे हैं।


इंजीनियरों ने ठेकेदार को छह करोड़ का लाभ पहुंचाया, जांच साबित, नहीं हुई कार्रवाई
Our Correspondent :13 Feb. 2017
भोपाल: इंदिरा सागर परियोजना की पुनासा उद्वहन सिंचाई योजना में इंजीनियरों ने नौ साल पहले ठेकेदार को करीब छह करोड़ रुपए का न केवल अनुचित भुगतान किया, बल्कि नियमित प्रगति रिपोर्ट न देने पर ठेकेदार का एक-एक लाख रुपए का भुगतान भी नहीं रोका। जल संसाधन विभाग ने जांच कराई तो दो इंजीनियरों के खिलाफ आरोप साबित भी हुए, लेकिन इन पर कार्रवाई आज तक नहीं हुई।
सूत्रों के मुताबिक तत्कालीन अधीक्षण यंत्री नर्मदा विकास मंडल सनावद इंदिरा सागर परियोजना लक्ष्मीनारायण बड़गोतिया और तत्कालीन कार्यपालन यंत्री नर्मदा विकास संभाग खरगोन इंदिरा सागर परियोजना ज्ञानप्रकाश सोनी के खिलाफ शिकायत आई कि वर्ष 2008-09 में ठेकेदार को इंसेटिव एडवांस के नाम पर 584 लाख रुपए का भुगतान किया है, जबकि इन्हें इंसेटिव एडवांस देने का अधिकार नहीं है। इसी प्रकार ठेकेदार द्वारा प्रति माह अंतिम तारीख को प्रगति रिपोर्ट न देने पर एक लाख रुपए भुगतान रोका जाना था। इसका पालन नहीं नहीं करके ठेकेदार को अनुचित लाभ दिया।
सूत्रों के मुताबिक इस मामले की जांच नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के इंजीनियरिंग मेंबर जेएन शिवहरे ने की और करीब छह महीने पहले 31 मई को राज्य सरकार को सौंप दी थी। इसके बाद दोनों अधिकारियों को विभाग ने एक और मौक देते हुए अभिलेखों के साथ बुलाया था लेकिन छह महीने बाद भी आज तक छह करोड़ रुपए की अनियमितता के इस मामले में कोई आदेश जारी नहीं हुए हैं।
सरकारी जांच के बारे में न पूछें
मैं किसी जांच के बारे में टिप्पणी नहीं कर सकता। सरकारी जांच के बारे में कुछ नहीं बता सकता।


स्कूली बच्चों के पाठ्यक्रम में जुड़ेगा सहजयोग का पाठ
Our Correspondent :13 Feb. 2017
भोपाल: प्रदेश में स्कूली बच्चों में सकारात्मकता बढ़ाने के लिए उनके पाठ्यक्रम में सहजयोग का पाठ जोड़ने की तैयारी चल रही है। सरकार का मानना है कि सहजयोग से बच्चों में एकाग्रता बढ़ेगी। साथ ही बच्चों के मन में निराशा के भाव नहीं आ पाएंगे। भोपाल सहित प्रदेश के सभी जिलों में आनंदम सहयोगी के रूप में 3 लोगों का चयन किया जाएगा।
प्रदेश में नवगठित राज्य आनंद संस्थान के माध्यम से हर जिले में लोगों के जीवन में खुशियां घोलने के लिए जतन किए जा रहे हैं। पंचायत स्तर पर आनंदोत्सव मनाने के बाद अब नए सत्र से स्कूली बच्चों के पाठ्यक्रम में सहजयोग जोड़ने का भी प्रस्ताव है। इसके तहत बच्चों को 10 मिनट का ध्यान कराया जाएगा।
सरकार का मानना है कि पढ़ाई के साथ बचपन में ही बच्चों को योग का अभ्यास होगा जिससे बाद में भी योग का लाभ उन्हें मिलता रहेगा। सहजयोग के फायदे में मुख्य रूप से यही बताया गया है कि इससे बच्चों के मन में निराशा नहीं आएगी जिससे उनमें खुदकुशी जैसे विचार उत्पन्ना ही नहीं हो पाएंगे। जीवन पाजिटिविटी बढ़ने से उन्हें पढ़ाई में भी आनंद की अनुभूति होगी। इसके अलावा वह जो भी काम करेंगे उसमें उनकी एकाग्रता बढ़ेगी। यादयाश्त भी तेज होगी। इसका सीधा असर उनकी पढ़ाई पर दिखेगा।
अब 3 होंगे आनंदम सहयोगी
राज्य आनंद संस्थान ने जिलों में लोगों को आनंद की अनुभूति कराने के लिए अब तीन-तीन आनंदम सहयोगियों को तैनात किया है। पहले दो आनंदम सहयोगियों को ट्रेनिंग दिलाई गई थी, अब एक और व्यक्ति को जोड़ दिया गया है। भोपाल में एक एनजीओ कार्यकर्ता विपुल को तीसरे सहयोगी के रूप में जोड़ा गया है। राजधानी को दो शिक्षक महेन्द्र तिवारी एवं अरुण विश्वकर्मा को आनंदम सहयोगी के रूप में पहले ही तैनात कर दिया गया था।


परिवार के लोगों को भी नहीं छोड़ा था उसने...पति को समझ आया एक ही इलाज
Our Correspondent :8 Feb. 2017
भोपाल: गुनगा इलाके में 15 साल से पत्नी से रोजाना के विवाद और मारपीट से तंग आकर एक किसान ने खेत पर लगे पेड़ से फांसी लगाकर जान दे दी। गुनगा पुलिस ने सोमवार को मृतका की पत्नी के खिलाफ मारपीट का मामला भी दर्ज किया था। फिलहाल मर्ग कायम कर जांच की जा रही है। गुनगा टीआई चेन सिंह रघुवंशी ने नवदुनिया को बताया कि ग्राम बीनापुर में रहने वाले 42 वर्षीय गोवर्धन मीना खेती किसानी करते थे।
मंगलवार सुबह वह पेड़ पर फांसी पर लटके मिले। सूचना लगने के बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को पीएम के लिए हमीदिया अस्पताल भिजवाया। आत्महत्या का कारण पुलिस पत्नी से विवाद मानकर चल रही है। सोमवार सुबह गोवर्धन का पत्नी श्यामाबाई से काफी विवाद हुआ था।
उसके बाद दोनों के बीच में मारपीट भी हुई थी। श्यामाबाई पत्थर लेकर उनको मारने भी दौड़ी थी। तभी महिला के चाचा ससुर बीच बचाव कराने आ गए थे। तभी महिला ने गुस्से में पत्थर अपने चाचा सुसर के सिर पर ही मार दिया था। इसकी शिकायत पर महिला के खिलाफ गुनगा पुलिस ने मारपीट की एफआईआर दर्ज कर ली थी।


104 हेल्पलाइन से मिलेगी 24 घंटे मेडिकल हेल्प, काउंसलिंग भी करेंगे एक्सपर्ट्स
Our Correspondent :8 Feb. 2017
भोपाल: यदि रात में आपको पेट दर्द हो रहा है। बुखार आ गया है। घर में दवा उपलब्ध है। लेकिन यह नहीं पता देना कैसे है। कितनी देना है। इसके लिए अब घबराने की जरूरत नहीं है। लोगों की परेशानी को देखते हुए सरकार 104 मेडिकल हेल्पलाइन शुरू करने जा रही है। काॅलर के लिए तैयार किए गए सॉफ्टवेयर की टेस्टिंग का काम पूरा कर लिया गया है। 10 तारीख से इसको शुरू करने की तैयारी है।
- इसके लिए दो एमबीबीएस डॉक्टरों को तैनात किया जाएगा, जो कॉलर के सवाल का जवाब फोन पर देंगे। यह व्यवस्था एम्स में शुरू की गई टेलीमेडिसीन सेवा जैसी ही रहेगी।
- इसके लिए कमला नेहरु गैस राहत अस्पताल में बनाए जा रहे 108 इमरजेंसी सर्विस का नया कॉल सेंटर बनकर तैयार हो गया है। ईदगाह हिल्स सेंटर को यहां पर शिफ्ट किया जा रहा है।
पहली बार लागू हो रही व्यवस्था
- पहली बार यह व्यवस्था यहां पर लागू की जा रही है। ताकि एक ही कॉल पर सभी परेशानियों का हल मिल सके।
- इसके पीछे अफसरों का तर्क है कि आपदा की स्थिति में अब एक ही नंबर 108 पर कॉल लगाने से तत्काल सुविधा मिल सके।
- रिस्पांस टीम की संख्या बढ़ी- नए कॉल सेंटर में रिस्पांस टीम की संख्या 45 से बढ़ाकर 105 कर दी गई है। यानि अब एक बार में 105 लोगों को मदद मिल सकेगी। घटना के वक्त अब लोगों को वेटिंग में नहीं रहना पड़ेगा।
तैयारी. एक ही काॅल सेंटर पर कई सुविधाएं
- एम्बुलेंस 108, जननी एक्सप्रेस, मेडिकल मोबाइल यूनिट और चिकित्सा परामर्श की सेवाएं एक ही कॉल सेंटर से दी जाएंगी।
- जिगित्सा सर्विस और सरकार के बीच हुए अनुबंध के मुताबिक यह सेवाएं एक ही कॉल सेंटर से देना तय हुआ है।
- एकीकृत एम्बुलेंस सेवा का संचालन जिगित्सा हेल्थ केयर की तरफ से किया जाने लगा है।
- अभी तक निशुल्क इमरजेंसी सेवाओं का उपयोग करने के लिए मरीजों को 108 एंबुलेंस और बीमारियों से संबंधित जानकारी के लिए 104 पर कॉल करना पड़ता था।
- इसके बाद 108, 104 के अलग-अलग कॉल सेंटर से एम्बुलेंस भिजवाई जाती थीं। इसी तरह जननी एक्सप्रेस के लिए जिलों में अपने-अपने कॉल सेंटर नंबर थे।
दावा. एक मार्च से ऑन रोड होंगी 38 एंबुलेंस
ईदगाह हिल्स स्थित दफ्तर में खड़ीं 3 करोड़ की धूल खा रहीं 38 एंबुलेंस को ऑनरोड करने के लिए एनएचएम ने नई डेडलाइन तय कर दी है। एनएचएम के डायरेक्टर वी किरण गोपाल का कहना है कि एक मार्च तक 38 एंबुलेंस ऑनरोड हो जाएंगी।
अगले चरण में मोबाइल मेडिकल यूनिट का रूट मैप
जिगित्सा हेल्थ केयर लिमिटेड के फायनेंस ऑफिसर मनोज संचेती ने बताया कि 114 मोबाइल मेडिकल यूनिट चलाईं जाएंगी, इसके लिए रूट मैप बन रहा है। इसी साल दिसम्बर से इसे शुरू करने की तैयारी की जा रही है।


हबीबगंज की तरह भोपाल स्टेशन का होगा री-डेवलपमेंट, मिलेगा हेरिटेज लुक, सुविधाएं बढ़ेगी
Our Correspondent :8 Feb. 2017
भोपाल: अगले कुछ सालों में भोपाल रेलवे स्टेशन हेरिटेज लुक में नजर आएगा। यात्रियों को कई सुविधाएं मिलेगी। रेलवे को भी फायदा होगा। अभी स्टेशन कई मूलभूत सुविधाओं से जूझ रहा है। यात्रियों को भी परेशान होना पड़ता है। असल में भोपाल रेलवे स्टेशन देश के उन 400 स्टेशनों में शामिल है जिनके री-डेवलपमेंट की घोषणा 1 फरवरी को आम बजट के साथ आए रेल बजट में हुई है। 8 फरवरी को रेल मंत्री सुरेश प्रभु पहले चरण में देश के ऐसे 20 स्टेशनों के री-डेवलपमेंट का साफ्ट प्लान लांच करेंगे। पहले ही चरण में प्रदेश के भोपाल और इंदौर रेलवे स्टेशन को जगह मिली है।
सहकारिता मंत्री और महापौर दे सकेंगे सुझाव
रेल मंत्री बुधवार शाम 4.15 बजे दिल्ली से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए साफ्ट प्लान लांच करेंगे। इसमें सहकारिता मंत्री विश्वास सारंग और महापौर आलोक शर्मा डीआरएम दफ्तर में मौजूद रहेंगे। इस दौरान दोनों भोपाल स्टेशन के री-डेवलपमेंट पर सुझाव देंगे सकेंगे। जबलपुर जोन के सीपीआरओ सुरेंद्र यादव ने बताया कि 45 साल के लिए रेलवे डेवलपर को स्टेशन परिसर में 45 साल के लिए लीज पर फ्री लैंड उपलब्ध कराएगा। रेलवे की शर्ता पर डेवलपर को स्टेशन के री-डवलपमेंट का प्लान देना होगा। रेलवे भी प्लान बताएगा।
इस तरह बदलेगा री-डेवलपमेंट में स्टेशन का लुक
अंडर ग्राउंड सब-वे बनेगा या फुटओवर ब्रिजों की संख्या बढ़ेगी
ट्रेनों से प्लेटफार्म पर उतरने वाले यात्रियों को स्टेशन से बाहर निकलने के लिए अंडर ग्राउंड सब-वे मिल सकता है। फुट ओवरब्रिजों की संख्या भी बढ़ सकती है।
वजहः एक साथ स्टेशन पर दो या अधिक ट्रेनों के रूकने से यात्रियों का दबाव बढ़ जाता है। फुट ओवरब्रिज से यात्रियों को निकलने में दिक्कत होती है। आने-जाने वाले यात्री ब्रिज पर टकराते है।
मल्टी या अंडर ग्राउंड पार्किंग
स्टेशन के प्लेटफार्म-1 और 6 की तरफ पार्किंग के लिए स्पेश नहीं है। ऐसे में मल्टी या अंडर ग्राउंड पार्किंग का निर्णय लिया जा सकता है।
वजहः स्टेशन के दोनों एंट्री गेट पर स्पेश की कमी है। यात्रियों को वाहन पार्क करने में दिक्कत आती है।
टूटेंगे दफ्तर, मल्टी स्टोरी में मिलेगी जगह
प्लेटफार्म-1 पर निशातपुरा आउटर की तरफ इंजीनियरिंग सेक्शन के ज्यादातर ऑफिस है। ये सभी री-डेवलपमेंट प्लान में टूटेंगे। इसकी जगह मल्टी स्टोरी बनेगी। जिसमें इन दफ्तरों को जगह मिलेगी।
वजहः स्टेशन पर जगह बहुत कम है। हबीबगंज आउटर तरफ कुछ भी स्पेश नहीं है जो है वह ओवरब्रिज से सटा हुआ है। निशातपुरा आउटर की तरफ यार्ड है। रेलवे दोनों एंट्री गेट की तरफ पहले से स्पेश की कमी से जूझ रहा है। ऐसे में इंजीनियरिंग विभाग और बाकी के दूसरे दफ्तरों को तोड़ना और उनकी जगह मल्टी बनाना आसान होगा।
6 नंबर प्लेटफार्म होगा 24 कोच का, 4 की बदलेगी सुरत
प्लेटफार्म-6 की लंबाई अभी कम है। री-डेवलपमेंट में इस प्लेटफार्म की लंबाई बढ़ने के साथ-साथ शेडों की संख्या भी बढ़ जाएगी। प्लेटफार्म-4 की सुरत भी बदल जाएगी।
वजहः प्लेटफार्म-4 पर लगी टाइल्स टूटी है। शेडों की कमी है टाइल्स जगह-जगह से टूटी है। यात्रियों को परेशान होना पड़ता है। प्लेटफार्म-6 की लंबाई कम होने के कारण इस पर लंबी ट्रेनों को नहीं ले पा रहे हैं।
स्टेशन पर इन सुविधाओं की जरूरत
शेडों की संख्याः प्लेटफार्म पर शेडों की कमी है। प्लेटफार्म-1 तो शेड से कवर्ड है लेकिन बाकी के प्लेटफार्म पूरी तरह कवर्ड नहीं है। यात्रियों को धूप में ट्रेनों का इंतजार करना पड़ता है।
पीने के साफ पानीः अभी पीने के साफ पानी की व्यवस्था बेहतर नहीं है। आरो मशीन कभी भी खराब हो जाती है।
कुर्सियों की कमीः किसी भी प्लेटफार्म पर बैठने की बेहतर व्यवस्था नहीं है। यात्रियों खड़े रहकर ट्रेनों का इंतजार करना पड़ता है।
एस्केलेटर-लिफ्ट की कमीः दोनों एंट्री गेट की तरफ एस्केलेटर और लिफ्ट की कमी है। वरिष्ठ नागरिक और जरूरतमंद यात्री परेशान होते हैं।
सस्ते होटल नहीं: स्टेशन पर ठहरने के लिए यात्रियों को सस्ते में होटल नहीं मिल पाते। बाहर व्यवस्था करनी पड़ती है।
ऑपरेशन प्लान में आएगी दिक्कत
स्टेशन के पास जगह कम है। बीना आउटर की तरफ से लगा निशातपुरा यार्ड है। जिसकी लंबाई हबीबगंज आउटर की तरफ वाले यार्ड से करीब 1 किमी अधिक है। हबीबगंज आउटर की तरफ ओवरब्रिज है। ऐसे में अगले 50 साल में रेलवे को ऑपरेशन प्लान की जमीन के लिए दिक्कत आ सकती है।


20 मिनट में नाबालिग ने SUV सेे मचाया उत्पात, एक के बाद एक ठोकी 6 गाड़ियां
Our Correspondent :7 Feb. 2017
भोपाल: तलैया थाना क्षेत्र में मंगलवार सुबह एक तेज रफ्तार एंडेवर गाड़ी (एक्सयूवी) में सवार नाबालिग ने जमकर उत्पात मचाया। महज 20 मिनट के भीतर उसने 6 वाहनों को टक्कर मारी। इस दौरान छह लोग घायल हुए हैं, इनमें एक को गंभीर चोटें हैं। नाबालिग की ये करतूत मंगलवार सुबह करीब रात 8:55 बजे शुरू हुई। एंडेवर क्रमांक एमपी 04 केजी 1100 ने मोती मस्जिद के पास स्कूटर सवार वकार और अयाज को टक्कर मार दी।
- इससे वकार को गंभीर चोटें आई हैं। हादसे के बाद लोगों को पीछे भागते देख एक्सयूवी सवार ने रफ्तार बढ़ा दी। फायर ब्रिगेड स्टेशन के पास उसने दो खड़े वाहनों में टक्कर मारी।
- इसके बाद चिरायु अस्पताल के पास उसने अली, हुसैन व जीतू नामक व्यक्तियों को चोट पहुंचाई। घबराकर अब वह वाहन को फतेहगढ़ की गलियों में ले गया।
- जहां उसने करीब 9.15 बजे एक खड़ी जिप्सी को क्षतिग्रस्त किया और टक्कर से रुक गया।
प्रत्यक्षदर्शी बोले- गाड़ी से उतरकर तीन नाबालिग भागे थे
- एसआई करण सिंह के मुताबिक प्रत्यक्षदर्शियों ने एक्सयूवी में से तीन नाबालिगों को उतरकर भागते देखा है। हादसे की सूचना पर पुलिस पहुंची तो तीनों भाग चुके थे।
- पुलिस गाड़ी को जब्त कर थाने ले आई। पड़ताल में पता चला कि गाड़ी द्वारका धाम, करोंद निवासी अग्निमेश तोमर की है।
- पेटी कांट्रेक्टर का काम करने वाले अग्निमेश ने पुलिस को बताया कि ये गाड़ी उन्होंने 15 दिन पहले सर्विसिंग के लिए दी थी।
बिना बताए ले गया था
एसआई के मुताबिक सर्विसिंग सेंटर इमरान का है। पुलिस ने इमरान से संपर्क किया तो पता चला कि ये गाड़ी उसका नाबालिग भांजा चला रहा था। सुबह उसे बताए बगैर वह अपने दो दोस्तों के साथ गाड़ी लेकर निकल गया। पुलिस ने इस मामले में भांजे के साथ-साथ इमरान को भी लापरवाही का आरोपी बनाया है।




सेवानिवृत्त संयुक्त संचालक को मुख्यमंत्री ने किया निलंबित
Our Correspondent :7 Feb. 2017
भोपाल: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को समाधान ऑनलाइन में उद्योग विभाग के जिस अधिकारी को निलंबित करने के निर्देश दिए, वे सेवानिवृत्त हो चुके हैं। अधिकारियों ने पहले से इसकी जानकारी सीएम को नहीं दी थी।
मुख्यमंत्री ने पांच अधिकारियों-कर्मचारियों को निलंबित करने के साथ दो की सेवा समाप्त करने के निर्देश दिए। वहीं नर्मदा तट पर हो रहे अवैध उत्खनन को लेकर अधिकारियों को सख्त कार्रवाई करने के निर्देश देते हुए साप्ताहिक रिपोर्ट भेजने के लिए कहा।
इस मौके पर समाधान ऑनलाइन में दिए निर्देशों के पालन की समीक्षा की गई। इसमें पिछली समाधान ऑनलाइन की कार्रवाई में उदासीनता बरतने के मामले में मुख्यमंत्री ने उद्योग विभाग के संबंधित संयुक्त संचालक को निलंबित करने के निर्देश दिए।
बताया जा रहा है कि ये अधिकारी सेवानिवृत्त हो चुका है। इसी प्रकरण में सरकार ने बैंक ऑफ महाराष्ट्र में एक साल तक कोई भी सरकारी पैसा जमा नहीं करने का फैसला लिया। उद्योग विभाग के अधिकारियों का कहना है कि अब मुख्यमंत्री को सही स्थिति बताई जाएगी।
भोपाल के पैरा मेडिकल कोर्स के छात्र अशोक कुमार लोधी की अंकसूची और छात्रवृत्ति मेयो कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंस प्रबंधन द्वारा नहीं देने पर कार्रवाई करने के निर्देश कलेक्टर को दिए गए।
अपराधी प्रदेश छोड़कर चले जाएं
मुख्यमंत्री ने बैठक में पुलिस अधिकारियों से कहा कि प्रदेश में माफिया नहीं पनपना चाहिए। अपराधियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए। आईजी रेंज में लगातार दौरे करें। पुलिस की कार्रवाई ऐसी हो कि अपराधी या तो जेल में रहें या फिर प्रदेश छोड़कर चले जाएं। महिला अपराधों को लेकर उन्होंने कहा कि आदतन अपराधी और विकृत मानसिकता वालों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए।
बैंक अफसर पर होगी कार्रवाई
मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में गड़बड़ी के मामले में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की ब्यावरा शाखा के प्रबंधक अविनाश मिश्रा के खिलाफ कार्रवाई होगी। मिश्रा ने स्वीकृत कर्ज की राशि देने से पहले 50 हजार रुपए की एफडी जमा करने कहा था।
ये होंगे निलंबित
प्राचार्य सुभाष जायसवाल और गीता तिवारी (साइकिल और छात्रवृत्ति देने में देरी), उपनिरीक्षक जगदीश तोमर(एफआईआर लिखने में देरी) , पंचायत सचिव रविशंकर पटेल(कुएं के निर्माण में अनियमितता) , सहायक ग्रेड तीन टेकचंद्र बुनकर (नामांतरण में देरी)।
सेवा समाप्त- संविदा उपयंत्री अनिल सक्सेना (कुआं बनाने में गड़बड़ी)।
वेतनवृद्धि रोकी- सहायक विकास विस्तार अधिकारी अमोल सिंह झारिया (मेढ़ बंधान और कुआं निर्माण में देरी)।


जान बचाने उदयन से अंत तक जूझती रही आकांक्षा
Our Correspondent :7 Feb. 2017
भोपाल: उदयन ने आकांक्षा की हत्या की योजना पहले से जरूर बना ली थी, लेकिन हत्या से पहले आकांक्षा ने जान बचाने के लिए उदयन से अंतिम सांस तक संघर्ष किए। दोनों के बीच जमकर हुई झूमाझपटी में आकांक्षा की गले की दाएं तरफ की हड्डी टूटी और चेहरे पर गंभीर चोटें भी आईं। अंतत: दम घुटने से उसकी मौत हो गई। यह तथ्य आकांक्षा की शॉर्ट पीएम रिपोर्ट में सामने आए हैं। रिपोर्ट गोविंदपुरा पुलिस को सौंप दी गई है। डॉक्टरों की सलाह पर पुलिस अब डीएनए और बिसरा के जरिए विस्तृत भी करवा रही है।
डॉक्टरों और फारेंसिक एक्सपर्ट के मुताबिक सीमेंट का घोल होने के कारण शव का हवा से संपर्क नहीं हो पाया, जिससे शव को डीकम्पोज होने में समय लगा। पोस्ट मार्टम में आकांक्षा के शरीर में किसी तरह का जहर सामने नहीं आया है, लेकिन डॉक्टरों के अनुसार हैवी मेटल युक्त जहर यदि दिया गया होगा तो बिसरा की जांच में उसकी पुष्टि हो सकती है। वहीं डीएनए जांच में यह भी स्पष्ट हो जाएगा कि आकांक्षा की मौत किस दिन हुई है। पुलिस अभी उदयन के बयानों पर पूरी तरह विश्वास नहीं कर रही है।
3 महीने से माता-पिता की हत्या की फिराक में था
उदयन ने क्राइम सीरियल देखकर ही मां इंद्राणी और पिता बीके दास की हत्या की भी योजना बनाई थी। वह तीन महीने तक दोनों की एक साथ हत्या करने की फिराक में था, लेकिन उसे मौका नहीं मिला। मौका मिलते ही उसने माता-पिता को मौत के घाट उतार दिया। यह खुलासा आरोपी उदयन ने पूछताछ में किया।




इस साइको किलर की थीं कई गर्लफ्रेंड, एक के प्रपोजल ठुकराने पर खौल उठा था खून
Our Correspondent :6 Feb. 2017
भोपाल: भोपाल में प्रेमिका की हत्या के बाद लाश पर चबूतरा बनाने वाले उदयन ने रानी(परवर्तित नाम) नाम की एक अन्य लड़की को अपने प्रेम जाल में फांस रखा था। आकांक्षा की हत्या के बाद उदयन ने रानी को शादी के लिए प्रपोज किया था। लेकिन, उसने शादी से इंकार कर दिया था इस वजह से उदयन ने उसे भी मारने की योजना बना ली थी।
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आकांक्षा की मौत के पहले से ही आरोपी एक अन्य लड़की से संपर्क में था। रानी उसके बचपन की दोस्त थी, जिसके साथ वह इन दिनों घूम-फिर रहा था। रानी की फेसबुक फ्रेंडलिस्ट में भी उदयन शामिल है, जिसने उसकी कुछ तस्वीरों पर कमेंट भी किए हैं।
रानी के साथ देखी थी फिल्म
-गिरफ्तारी से एक दिन पहले उदयन और रानी ने फिल्म 'काबिल' साथ देखी थी।
-बताया यह भी जा रहा है कि रानी और उदयन बचपन में साथ पढ़ते थे और रानी की वजह से ही उदयन और आकांक्षा के बीच अकसर लड़ाई होती थी।
-पुलिस ने उदयन के मोबाइल से लगभग एक दर्जन लड़कियों के नाम और नंबर निकाले हैं। जिनके बारे में पूछताछ की जा रही है।
-उदयन की कॉल डीटेल के आधार पर पुलिस संबंधितों से संपर्क करने की कोशिश कर रही है, लेकिन सभी के मोबाइल बंद आ रहे हैं।
सरकारी मकान में रहता था उदयन का परिवार
-उदयन का बचपन शिवाजी नगर स्थित 122/43 के सरकारी मकान में रहता था।
-यह मकान इंद्राणी दास को शासकीय नौकरी के दौरान मिला था।
-साल 2000 में मप्र से छत्तीसगढ़ के अलग होने के कारण उनको रायपुर जाना पड़ा था।
-पड़ोसियों के अनुसार इंद्राणी काफी झगड़ालू स्वभाव की थी। वह उदयन को बाहर अन्य बच्चों के साथ खेलने नहीं देती थी।
-उदयन जब भी कोई शरारत करता था इंद्राणी उसे घंटों बाथरूम में बंद करके रखती थी।
पहली बीवी की रोम में हत्या
-साइको किलर उदयन अब तक कितनी हत्याएं कर चुका है, इसका अभी खुलासा होना बाकी है।
-पश्चिम बंगाल पुलिस को प्रारंभिक पूछताछ में उदयन ने बताया था कि उसने एक अन्य लड़की से भी शादी की थी।
-हनीमून मनाने वह इटली की राजधानी रोम गया था। वहां सड़क हादसे में पत्नी की मौत हो गई। हालांकि वह सच बोल रहा या झूठ, इसका खुलासा नहीं हो सका है।
-चूंकि उसके मां-बाप के कंकाल मिल चुके हैं, इसलिए इस मामले को लेकर भी पुलिस अलर्ट हुई है।
यह सवाल अनुत्तरित..
-उदयन के पास से 2014 के अंतिम महीने में बना पासपोर्ट जब्त हुआ है। उसमें पासपोर्ट में विदेश जाने का कोई जिक्र नहीं है। फिर वह रोम, बैंकाक और थाईलैंड किस पासपोर्ट के आधार पर गया था?
-आरोपी 2011 तक रायपुर में रहा, कहीं उसने वहां से फर्जी पासपोर्ट तो नहीं बनवा लिया था?




भोपाल से दिल्ली जा रही एयर इंडिया की फ्लाइट की जयपुर में इमरजेंसी लैडिंग, सवार थे कई VIP
Our Correspondent :6 Feb. 2017
भोपाल: जयपुर एयरपोर्ट पर सोमवार को एयर इंडिया के एक विमान को इमरजेंसी लैंडिंग दी गई। यह विमान भोपाल से दिल्ली जा रहा था। अचानक पायलट को विमान में कुछ गड़बड़ी का अंदेशा हुआ और फिर यह विमान जयपुर लैंड कराया गया। विमान में तीन सासंद सहित करीब 100 से ज्यादा यात्री सवार थे।
फ्यूल की कमी का तर्क
-एयर इंडिया की यह फ्लाइट एआई 436 भोपाल से दिल्ली जा रही थी। इसमें तीन सांसद प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान, प्रभात झा और लक्ष्मीनारायण यादव के अलावा करीब 50 यात्री सवार थे। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष झा ने जान बचाने वाले पायलट को दिया धन्यवाद।
- तब अचानक पायलट को अंदेशा हुआ कि विमान के इंजन या कहीं और कुछ गड़बड़ी है।
- पायलट ने दिल्ली से पहले ही नजदीकी जयपुर एयरपोर्ट से संपर्क साधा और विमान को इमरजेंसी लैंडिंग की अनुमति मांगी।
-पायलट ने एयरपोर्ट के एटीसी को सूचित किया कि विमान में फ्यूल लीक हो रहा है, ऐसे में लैंडिंग की अनुमति दी जाए।
-अनुमति मिलने के बाद जयपुर एयरपोर्ट पर यह विमान लैंड कराया गया।
-जयपुर एयरपोर्ट प्रबंधन का कहना है कि यहां बर्ड हिट जैसी कोई घटना का मामला नहीं है।
हालांकि बाद में एयरपोर्ट डायरेक्टर जयदीप सिंह बलहारा ने बताया कि मौसम खराब होने से काफी देर तक विमान को हवा में रोका गया था। इसके बाद पायलट ने कहा कि इसमें फ्यूल कम शो कर रहा है, ऐसे में जयपुर डायवर्ट कर दिया गया।
-जयपुर उतारे जाने के बाद फ्यूल की जांच की गई, तो इसमें फ्यूल लीकेज की बात सामने आई। पायलट ने इमरजेंसी लैंडिंग नहीं की है। इसे प्रॉयोरिटी लैंडिंग कहते हैं।
-बाद में सभी यात्रियों को तीन बसों के जरिये दिल्ली भेजा गया।


सिद्धि का इलाज कराएंगे CM, लिवर ट्रांसप्लांट के लिए परिजनों ने मांगी थी मदद
Our Correspondent :6 Feb. 2017
भोपाल: बेटी के लिवर ट्रांसप्लांट के लिए भटक रहे परिजनों से सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मुलाकात की है। CM ने परिजनों को सिद्धि का इलाज कराने का आश्वासन दिया है। गौरतलब है कि बच्ची दिल्ली के इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बिलयरी सर्जरी (आईएलबीएस) में भर्ती है।
-सिद्धि के पिता भोपाल स्थित भानपुर के एक मंदिर में पुजारी हैं। सिद्धि के अलावा उनके दो बेटे हैं।
-चतुरनारायण ने बताया कि करीब छह महीने पहले सिद्धि को पेट दर्द और उल्टी की समस्या हुई थी।
-इसके बाद पीपुल्स मेडिकल कॉलेज, मिरेकल अस्पताल, लखनऊ के पीजीआई अस्पताल और दिल्ली के सर गंगाराम राम अस्पताल में सिद्धि का इलाज कराया था।
-रिपोर्ट के आधार पर डॉक्टरों ने लिवर ट्रांसप्लांट की सलाह दी थी।
क्या हुआ है सिद्धि को
-आईएलबीएस की डॉ. सीमा आलम के अनुसार, बच्ची को विल्सन डिजीज है। बच्ची के लिवर में कॉपर जमा हो गया है। कॉपर की मात्रा इतनी बढ़ गई है कि लिवर ने काम करना बंद कर दिया है।
-बीमारी इतनी बढ़ गई है कि बच्ची के दिमाग पर भी इसका असर दिखने लगा है।
-डॉक्टर्स की माने तो, यदि जल्द ही लिवर ट्रांसप्लांट नहीं किया गया तो बच्ची की जिंदगी जोखिम में पड़ सकती है।
मदद के लिए आगे आए दोस्त
-पं. चतुरनारायण के दोस्त पं. अमितानंद लिवर ट्रांसप्लांट के लिए पैसे जुटाने के लिए जगह-जगह सुंदरकांड का पाठ कर रहे हैं।
-पं. अमितानंद का कहना है कि, जिन लोगों को सिद्धि की बीमारी के बारे में पता है वे अपनी स्वेच्छा अनुसार दान कर रहे हैं।
-सिद्धि की मदद के लिए पिता चतुरनारायण से मोबाइल नंबर 9827256179 पर संपर्क किया जा सकता है।


कबूलनामाः गर्लफ्रेंड से पहले मां-बाप को भी मारकर गाड़ चुका है उदय!
Our Correspondent :4 Feb. 2017
भोपाल के साइको किलर उदय दास को लेकर पुलिस ने चौंकाने वाला खुलासा किया है. उदय अपनी गर्लफ्रेंड आकांक्षा ही नहीं बल्कि अपने माता-पिता का भी कत्ल कर चुका है. आरोपी ने अपने माता-पिता की हत्या करने के बाद उनकी लाश घर के आंगन में ही गाड़ दी थी.
लिव-इन रिलेशनशिप में रहने वाली गर्लफ्रेंड की हत्या के आरोपी उदय दास (32 वर्ष) ने शनिवार को पुलिस के सामने कई चौंकाने वाले खुलासे किए. उसने पुलिस को बताया कि छत्तीसगढ़ के रायपुर में 2011 में माता-पिता की हत्या करने के बाद उसने उनकी लाश को घर के आंगन में ही दफना दिया था.
जिसके बाद उदय ने रायपुर में शांति नगर स्थित अपना वह मकान बेच दिया. डीआईजी रमन सिंह सिकरवार के अनुसार, आरोपी के कबूलनामे की तस्दीक के लिए एक टीम रायपुर भेजी जा रही है. उन्होंने कहा, फिलहाल माता-पिता के कत्ल की वजह अभी तक साफ नहीं है. उदय ने बताया कि उसके पिता वी.के. दास एक फोरमैन थे.
हर महीने निकालता था मां की पेंशन
वहीं उदय की मां विध्यांचल भवन में एनालिस्ट के पद से रिटायर हुई थीं. उदय ने बताया कि हर महीने उसकी मां की लगभग 30 हजार रुपये पेंशन आती है. उदय के माता-पिता का एमपी नगर स्थित फेडरल बैंक शाखा में ज्वाइंट अकाउंट है. वह हर महीने मां की पेंशन निकालता था. पुलिस ने आरोपी के नशेड़ी प्रवृत्ति के होने की भी बात कही है.
आकांक्षा की गला दबाकर की थी हत्या
गौरतलब है कि 14 जुलाई, 2016 की रात आकांक्षा और उदय का झगड़ा हुआ था. जिसके बाद 15 जुलाई, 2016 को उदय ने देर रात आकांक्षा का तकिए से मुंह दबाकर उसकी हत्या कर दी. जब इतने से भी उसका दिल नहीं भरा तो उसने आकांक्षा का गला घोंट दिया. कत्ल करने के बाद उदय ने लाश को एक बॉक्स में रखकर उसमें सीमेंट और पानी डाल दिया.
इंग्लिश सीरियल से मिला था लाश छुपाने का आइडिया
पुलिस की मानें तो उदय ने आकांक्षा की लाश को ठिकाने लगाने और चबूतरा बनाने में 14 बोरी सीमेंट का इस्तेमाल किया था. पुलिस ने बताया कि उदय को शव को बॉक्स में दफनाने का आइडिया इंग्लिश चैनल पर "वॉकिंग डेथ" नाम के सीरियल से मिला था. उदय अक्सर चबूतरे पर परफ्यूम भी छिड़कता था. साइको किलर उदय हर रोज उसी चबूतरे पर ही बिस्तर बिछाकर सोता था.
पश्चिम बंगाल की रहने वाली थी आकांक्षा
बताते चलें कि पश्चिम बंगाल के बांकुरा जिले के रहने वाले देवेंद्र कुमार शर्मा की 28 साल की बेटी आकांक्षा उर्फ श्वेता 24 जून, 2016 से लापता थी. देवेंद्र ने बांकुरा थाने में अपनी बेटी के अपहरण का मामला दर्ज करवाया था. उनको पता चला कि आकांक्षा किसी उदय दास नाम के लड़के के साथ भोपाल के गोविंदपुरा इलाके में रह रही है. पिता की निशानदेही पर बांकुरा थाना पुलिस गोविंदपुरा पहुंची और भोपाल पुलिस की मदद से उदय दास को गिरफ्तार कर लिया.


समारोह में बोले जावेद अख्तर- जुबान इलाकों की होती है, मजहबों की नहीं
Our Correspondent :4 Feb. 2017
भोपाल: मप्र उर्दू अकादमी के सम्मान समारोह में साल 2015-2016 और 2016-17 के लिए अखिल भारतीय सम्मान और प्रादेशिक सम्मान शुक्रवार को रवींद्र भवन में दिए गए। मीर तकी मीर सम्मान से जावेद अख्तर को सम्मानित किया गया। प्रमुख सचिव संस्कृति मनोज श्रीवास्तव ने यह सम्मान दिए।
नौजवानों की जुबान अब ट्विटर की हो गई है: जावेद
इस मौके पर जावेद अख्तर ने कहा कि नौजवानों के पास अल्फाज का जखीरा कम हो गया है, अब उनकी जुबान ट्विटर की जुबान है। पंजाबी बच्चे को अपनी भाषा, गुजराती को अपनी भाषा का ज्ञान जब तक नहीं होगा वो मिट्टी से नहीं जुड़ पाएगा। उर्दू शायरी पहले दिन से सेक्युलर है, और लोगों तक पहुंचनी चाहिए , हालांकि लोग शायरी को प्यार,मोहब्बत, जाम, चमन और कली समझते हैं, लेकिन यह तो सिर्फ इसका एक छोटा सा हिस्सा है। उन्होंने कहा कि जुबान इलाकों की होती है, मजहबों की नहीं। हुकूमतों को मानना चाहिए कि उर्दू हिंदुस्तान की जुबान है, और कश्मीर की तरह उस की हिफाजत करें।
जावेद अख्तर ने अख्तर सईद की शायरी सुनाई...
-हमने तेरे बगैर भी जी कर दिखा दिया, यह सवाल क्या है कि फिर दिल का क्या हुआ...।
-जिधर जाते हैं सब जाना उधर अच्छा नहीं लगता, मुझे पामाल रास्तों का सफ़र अच्छा नहीं लगता, गलत बातों को खामोशी से सुनना हामी भर लेना, बहुत हैं फायदे इसमें मगर अच्छा नहीं लगता, मुझे दुश्मन से भी खुद्दारी की उम्मीद रहती है, किसी का भी हो सिर क़दमों में सिर अच्छा नहीं लगता...।


शहीद का 'सम्मान' न करने CM से नाराज हुई फैमिली, कहा,'न हो किसी और के साथ ऐसा'
Our Correspondent :4 Feb. 2017
भोपाल/शहडोल: 26-27 जनवरी को जम्मू-कश्मीर के गुरेज सेक्टर में हिमस्खलन से शहीद हुए शहडोल के वीर सपूत देवेन्द्र सोनी की मां लक्ष्मी देवी और पिता विजय सोनी ने मीडिया को एक पत्र जारी किया है। पत्र में उन्होंने शहीद की शव यात्रा में शामिल होने वाले प्रदेशवासियों को धन्यवाद दिया है, वहीं CM के शामिल न होने को लेकर दु:ख जताया है।
शहीद के परिजनों ने पत्र में यह लिखा
शहीद देवेंद्र सोने की परिजनों ने मीडिया को एक धन्यवाद ज्ञापन दिया है। इसमें उन्होंने शहीद की अंतिम यात्रा में शामिल होने के लिए सेना, प्रदेशवासियों, स्थानीय जनता, मीडिया और जनप्रतिनिधियों का आभार व्यक्त किया है। इसके साथ ही शहीद की मां लक्ष्मी देवी और पिता विजय सोनी ने सीएम शिवराज सिंह चौहान द्वारा शहीद के बलिदान को यथायोग्य सम्मान न मिलने पर दु:ख भी व्यक्त किया है। शहीद के परिजनों ने पत्र में यह भी लिखा है कि आशा करते हैं कि 'हमारे देश में कभी भी किसी शहीद के साथ प्रदेश के मुखिया द्वारा ऐसी अवहेलना नहीं की जाएगी।'
अंतिम यात्रा में उमड़ा था हुजूम
-जम्मू-कश्मीर के गुरेज सेक्टर में 26-27 जनवरी को आए हिमस्खलन में शहीद हुए थे शहडोल के देवेन्द्र सोनी।
-शहीद का पार्थिव शरीर 31 जनवरी की देर रात शहडोल पहुंचा था।
-शहीद के पार्थिव शरीर के दर्शनार्थ हजारों लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा था।
-शहीद का 1 फरवरी को पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया था।
-शहीद को नगर सहित संभाग के जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक अधिकारियों, पुलिस के उच्च अधिकारियों, गणमान्य नागरिकों और स्कूली छात्र-छात्राओं ने अश्रुपूर्ण अंतिम विदाई दी थी।
-अंतिम संस्कार के पूर्व जबलपुर से आई सेना की टुकड़ी ने शहीद के सम्मान में गार्ड ऑफ ऑनर दिया। इसके पश्चात हिन्दू रीति से अंतिम संस्कार किया गया।
-शहीद को बड़े भाई वीरेंद्र सोनी ने मुखाग्नि दी थी।
स्थानीय लोगों ने जताई थी नाराजगी
-शहीद की अंतिम यात्रा में न तो सीएम शिवराज सिंह चौहान पहुंचे थे, न ही कोई बड़ा नेता मंत्री यहां दिखाई दिया था।
-शहीद का शव जब श्मशान घाट पहुंचा, तब सांसद ज्ञान सिंह अपने समर्थकों के साथ मौके पर पहुंचे थे।
-इस बात को लेकर स्थानीय लोगों में खासी नाराजगी जताई थी।
-लोगों का कहना है कि, एक तरफ प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान राष्ट्र को शहीदों का कर्जदार बताते हैं, तो दूसरी तरफ उनके पास शहीदों के अंतिम संस्कार में शामिल होने का भी वक्त नहीं है।
स्कूली बच्चों ने दी थी सलामी
-शहीद को अंतिम विदाई देने के लिए पूरा शहर उमड़ पड़ा था।
-इस दौरान शहीद का शव जहां से भी गुजरा लोगों ने फूल बरसाए और स्कूली बच्चों ने शहीद को सलामी दी।
-नगर के गांधी चौके और मुख्य मार्ग से होते हुए शहीद का शव श्मशान घाट तक लाया गया। यहां राजकीय सम्मान के साथ शहीद का अंतिम संस्कार किया गया।
सीमा पर रहते हुए देवेंद्र ने जीते थे 6 मेडल
-देवेंद्र 2010 में जबलपुर रैली में शामिल होकर सेना में भर्ती हो गया था।
-देवेंद्र ने सीमा पर बहादुरी का परिचय देते हुए 6 मेडल भी अर्जित किए थे।


स्वच्छता सर्वे: लोगों से पूछा गया, यहां पहली बार झाड़ू लगी है या हमेशा सफाई होती है?
Our Correspondent :3 Feb. 2017
भोपाल: सफाई व्यवस्था देखने आई क्वालिटी कौंसिल ऑफ इंडिया (क्यूसीआई) की टीम ने स्वच्छता सर्वे के दूसरे दिन पुराने शहर के बाजारों में साफ सफाई का जायजा लिया। इस दौरान साथ में नगर निगम के अधिकारी और सफाई कर्मचारी भी मौजूद रहे। स्वच्छ भोपाल के लिए ऐसी कवायद...
यह किए सवाल-जवाब
क्यूसीआई की टीम के सामने भोपाल को साफ-सुथरा साबित करने नगर निगम पूरी ताकत लगा रहा है। स्वच्छता सर्वे के दूसरे दिन सदर मंजिल से होते हुए टीम पुराने शहर के चौक बाजार सहित सहित कई क्षेत्रों में गई। इस दौरान टीम ने लोगों से पूछा कि झाड़ू पहली बार लगी है, यहां वाकई यहां रोज सफाई होती है? डस्टबिन को लेकर भी सर्वे टीम अधिकारियों से सवाल-जवाब कर रही है। तीन दिन चलने वाले इस सर्वे में शुक्रवार को केंद्र सरकार के डिप्टी सेक्रेटरी डीएस मिश्रा भी शामिल हुए। वे गुरुवार की देर शाम भोपाल पहुंच गए थे। मिश्रा सर्वे कर रहीं तीनों टीमों पर नजर रखे हुए हैं, ताकि सर्वें सटीक निकले।
वे अरेरा हिल्स हिल्स के बाद बिट्टन मार्केट में सर्वे करने पहुंचे। एक टीम ने बैरागढ़ बस स्टैंड का टॉयलेट(लगभग 30 साल पुराना) चेक किया। शहीद नगर भी चेक हुआ। सन सिटी कॉलोनी भी टीम पहुंची। जोन 2, बैरागढ़-लालघाटी एरिया, चौक बाजार की सफाई दो समय होती है, ऐसा टीम को मिले हर व्यक्ति का कहना था। टीम भानपुर खंती के आसपास के इलाकों में भी गई।
गुरुवार का घटनाक्रम
इससे पहले सफाई व्यवस्था देखने आई क्वालिटी कौंसिल ऑफ इंडिया (क्यूसीआई) की टीम ने सर्वे के पहले दिन नगर निगम के अफसरों को जमकर दौड़ाया। तीन सदस्यों की इस टीम के एक सदस्य सुदीप विजयवर्गीय ने निगम के दफ्तर में बैठकर कागजातों की पड़ताल की तो दो अन्य सदस्य प्रभाकर और विकास कुमार अलग-अलग रास्तों पर निकल पड़े। टीम ने अपने हिसाब से ही रूट तय किया। निगम को दोपहर दो बजे सूचना मिली कि शिवाजी नगर में निरीक्षण होगा।
जानकारी मिलते ही तत्काल सिटी इंजीनियर राजीव गोस्वामी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने फटाफट मार्केट और आसपास के क्षेत्र में सफाई कराई। स्थानीय कांग्रेस पार्षद गुड्डू चौहान भी उनके साथ हो लिए। तीन घंटे तक वहां सफाई का काम चलता रहा। पांच बजे यहां पहुंचे क्यूसीआई के एक्सपर्ट विकास कुमार ने सुलभ शौचालय के सीवेज टैंक के आसपास की गंदगी और उससे आ रही बदबू पर एतराज जताया। यहां फूल व्यवसायियों की दुकान पर रखी डस्टबिन को देख कर पूछा-‘इसका उपयोग भी होता है या नहीं?’ एएचओ राजीव सक्सेना ने डस्टबिन खोल कर दिखाई। इसमें कचरा पड़ा हुआ था। विकास कुमार दोपहर 12 बजे शाहपुरा स्थित मनीषा मार्केट पहुंचे। यहां व्यापारी संघ की अध्यक्ष रेखा खानविलकर और अमित गुप्ता सहित अन्य व्यापारियों ने सफाई व्यवस्था पर संतोष जताया और कहा कि पहले से स्थिति सुधरी है।
स्टेशनरी संचालक आलोक बादल ने बताया कि क्यूसीआई के एक्सपर्ट ने व्यापारियों के ई मेल आईडी लिए हैं। ऐसा लगता है कि वह ई मेल के जरिए कुछ फीडबैक लेंगे।
शहर भ्रमण पर निकले दोनों एक्सपर्ट नगर निगम के अमले को साथ रखने को राजी नहीं थे। उनका कहना था कि वे स्वतंत्र रूप से मुआयना करना चाहते हैं। अपर आयुक्त एमपी सिंह ने कहा कि हमारा अमला आपको संबंधित स्थान तक पहुंचाने में मदद करेगा, लेकिन कोई अड़चन पैदा नहीं करेगा। आखिरकार वे तैयार हो गए।
पानी से धुलाई भी
निगम को उम्मीद थी कि नादरा बस स्टैंड पर टीम सर्वे करेगी। इसके लिए एक दिन पहले ही यहां परिसर में डामरीकरण हुआ और प्लेटफार्म और दुकानों के आसपास के हिस्से की धुलाई भी की गई। मंगलवारा के बाजार में भी धुलाई की गई।
करोंद में इंतजार
दोपहर एक बजे संकेत मिला कि करोंद सब्जी मंडी में भी सर्वे होगा। डिप्टी कमिश्नर हरीश गुप्ता ने चप्पे-चप्पे पर सफाई कराई। सीवेज क्लीनिंग मशीन का भी उपयोग हुआ। पांच बजे तक अफसर इंतजार करते रहे। लेकिन सर्वे नहीं हुआ।
बच्चों के लिए इंतजाम क्यों नहीं
एक्सपर्ट ने शाहपुरा और शिवाजी नगर में पूछा कि सुलभ शौचालय में बच्चों के लिए अलग से इंतजाम क्यों नहीं हैं? अफसरों ने बताया कि अब तक पुरुष और महिला के लिए टायलेट बनाने और विकलांगों की सुविधा का ध्यान रखने के ही निर्देश थे।


वो बिना बताए बाइक से घूमने निकले और दो दिन बाद मिले इस हाल में
Our Correspondent :3 Feb. 2017
भोपाल: करोंद इलाके में स्कूल की फेयरवेल पार्टी से एक छात्र और छात्रा बिना बताए घूमने निकल गए। देर रात तक उनका पता नहीं लगा, तो परिजनों ने पुलिस को सूचना दी। निशातपुरा पुलिस जांच शुरू की तो दोनों की लोकेशन सागर में मिली। पुलिस जब सागर पहुंची तो वे विदिशा आ गए। बाद में दोनों को विदिशा से हिरासत में लेकर परिजनों को सौंप दिया गया है। पुलिस ने इस मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है।
निशातपुरा पुलिस की एसआई आस्था जैन ने बताया कि 28 जनवरी को करोंद स्थित निजी स्कूल में 12 के छात्रों के लिए 11वीं के छात्रों ने फेयरवेल पार्टी का आयोजन किया था। पार्टी के बीच में ही करोंद निवासी 11वीं का 17 वर्षीय छात्र और भानपुर में रहने वाली छात्रा गुपचुप निकल गए थे। देर रात जब दोनों घर नहीं पहुंचे, तो परिजनों ने स्कूल प्रबंधन से पूछताछ की।
इसके बाद मामला पुलिस के पास पहुंचा और पुलिस ने दोनों की तलाश शुरू की। पुलिस के मुताबिक छात्र अपनी स्पोर्ट्स बाइक से छात्रा को घुमाने ले गया था। भोपाल से वह सूखीसेवनिया होते हुए सागर पहुंचे थे। एक दिन सागर में रुके थे। वहां से विदिशा आए।
दोनों को विदिशा में हाईवे से हिरासत में लेकर पुलिस भोपाल आई और परिजनों के सुपुर्द कर दिया। दोनों के बयान दर्ज किए गए हैं, जिसमें दोनों ने दोस्ती होना बताया है। छात्र कारोबारी का बेटा हैं। उसके पिता की प्लास्टिक फैक्ट्री है। छात्रा के पिता रेलवे में अफसर हैं।


प्रेमिका का कत्ल कर शव घर में कांक्रीट से चुन दिया
Our Correspondent :3 Feb. 2017
भोपाल: साकेत नगर इलाके में एक रिटायर्ड डीएसपी और रिटायर्ड भेल अधिकारी के एकलौते बेटे ने अपनी ही प्रेमिका की दो महीने पहले गला दबाकर हत्या कर दी। फेसबुक पर दोस्ती होने के बाद आरोपी मृतका के साथ लिव-इन रिलेशनशिप में रह रहा था। हत्या के बाद प्रेमिका के शव को आरोपी ने घर की पहली मंजिल पर करीब 5 फीट लंबे और 3 फीट ऊंचे व चौड़े सीमेंट-कांक्रीट में चुन दिया।
गुरुवार को कत्ल का पर्दाफाश होते ही पुलिस ने हथौड़ों की मदद से घंटों तक कब्र तोड़ने की कोशिश की। नाकाम पुलिस को ड्रिल मशीन मंगवानी पड़ी। देर रात तक शव बरामद नहीं हो पाया है। हत्या के कारणों का पता नहीं चल पाया। आरोपी ने खुद को आईआईटी दिल्ली से पास आउट इंजीनियर बताया है।
सीएसपी गोविंदपुरा वीरेंद्र मिश्रा ने बताया कि गुरुवार सुबह पश्चिम बंगाल की बकोरा पुलिस भोपाल आई। वह बकोरा के बैंक मैनेजर शिवेंद्र शर्मा की बेटी श्वेता उर्फ आकांक्षा (28) की तलाश कर रही थी। उनके साथ श्वेता का भाई भी था। श्वेता के मोबाइल फोन की लोकेशन साकेत नगर ही आई थी। जांच के बाद मोबाइल की लोकेशन साकेत नगर 3-ए में भेल के रिटायर्ड अधिकारी बीके दास के मकान नंबर 62 आई।
पूछताछ करने पर पड़ोसियों ने बताया कि श्वेता करीब जून 2016 से बीके दास के इकलौते बेटे उदयन (32) के साथ रह रही है। वह उसे अपनी पत्नी बताता है। श्वेता के मकान में रहने की पुष्टि होने के बाद गोविंदपुरा पुलिस की मदद से बकोरा पुलिस ने उदयन को हिरासत ले लिया। सख्ती करने पर उदयन ने अपना जुर्म कबूल लिया। उसने बताया कि उसने किसी विवाद को लेकर श्वेता की दिसंबर के अंतिम हफ्ते में गला दबाकर हत्या कर दी।
हत्या के बाद उसने 3 फीट ऊंचा और इतना ही चौड़ा प्लेटफार्म बनाया। इसके बीच में लोहे के बक्से में लाश रखकर उसमें 10 बोरी सीमेंट का घोल बनाकर भर दिया। फिर संगमरमर लगाकर उसे कब्र को पैक कर दिया, वहीं पुलिस से पूछताछ में उदयन ने बताया कि मां छत्तीसगढ़ से रिटायर्ड डीएसपी है, जबकि पिता भेल से सेवानिवृत्त हैं। हालांकि, पुलिस को बाद में उदयन ने कहा कि पिता की मौत हो चुकी है, जबकि मां अमेरिका में रह रही हैं।
देर रात ड्रिल मशीन से कब्र तोड़ने में जुटी पुलिस - खुलासे के बाद पुलिस की दोनों टीमें गुरुवार शाम छह बजे उदयन को लेकर उसके घर पहुंची। पुलिस ने तहसीलदार सुधाकर तिवारी की उपस्थिति में कब्र को तोड़ना का काम शुरू किया। साढ़े 9 बजे तक भी पुलिस उसे हथोड़ों से नहीं तोड़ पाई थी। परेशान होकर ड्रिल मशीन मंगवाई गई। देर रात तक कब्र को तोड़ने का काम चल रहा था।
परिजनों से नौकरी की बात कहकर आई थी भोपाल
श्वेता जून 2016 में घर से नौकरी करने का कहकर भोपाल आई थी। तब से वह वॉट्सअप के जरिए परिजनों के संपर्क में रही। दिसंबर में परिजनों से संपर्क टूट गया। जनवरी 2017 के पहले हफ्ते में परिजनों ने उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई। जांच में मृतका के फोन की कॉल डिटेल साकेत नगर आई थी
एक दूसरे को मार रहे थे, अचानक मैंने उसका गला पकड़ा और फिर उसकी सांस थम गई
'उस रात श्वेता से झगड़ा हो गया। हम दोनों एक-दूसरे को मार रहे थे। मैंने उसका गला पकड़ लिया। वह झटपटा रही थी, लेकिन मेरे सिर पर जूनून सा छा गया था। अचानक उसकी सांस थम गई। अगर लाश बाहर ले जाता तो सबको पता चल जाता, इसलिए उसे घर में ही दफन कर दिया।'


मैं झूठे आरोप का मुकाबला करने के लिए कोर्ट गया, अगर आप सच के लिए नहीं लड़ते तो कायर हैं: सीएम शिवराज
Our Correspondent :2 Feb. 2017
शिवराज सिंह चौहान नवंबर 2005 से प्रदेश की बागडोर संभाल रहे हैं। सीएम के रूप में कार्यकाल शुरू हुआ तो कई चुनौतियां थीं। इन 11 सालों में शिवराज की छवि एक साधारण व्यक्तित्व वाले सीएम की रही। विरोधी इसे उनकी कमजोरी मानते तो चौहान खुद इसे ताकत। हाल ही में एक मामले में उन्हें कोर्ट जाना पड़ा। इस पर उनका जवाब है कि मैं कोर्ट गया, झूठे आरोप का मुकाबला करने। पेश है उनसे बातचीत के खास अंश। आपको खुद के बचाव के लिए कोर्ट में बैठना पड़ा..? -मैं बचाव के लिए कोर्ट नहीं गया। एक झूठा आराेप कि 17 लोग गोंदिया के भर्ती करवा दिए। यह बेबुनियाद आरोप था। मुझे लगा कि सही चीजें सामने आनी चाहिए, साबित होना चाहिए कि सच क्या है। तो क्या आप अपनी छवि सच के लिए लड़ने वाले योद्धा की बनाना चाहते हैं? - देखिए, जो सच है उसके लिए लड़ना चाहिए। अगर आप नहीं लड़ते तो आप कायर हैं। मुझे लगता है कि किसी ने गलत आरोप लगाया है तो फिर डटकर मुकाबला करना चाहिएं


5 साल से लिव-इन में थी छात्रा, देर रात फांसी लगाकर की आत्महत्या
Our Correspondent :2 Feb. 2017
पांच सालों से लिव-इन-रिलेशनशिप में रह रही एक छात्रा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। छात्रा बिहार की रहने वाली थी और भोपाल के एलएनसीटी कॉलेज से एमटेक सेकेंड ईयर की पढ़ाई कर रही थी। घटना रविवार देर रात को कोलार थाना क्षेत्र के अंतर्गत हुई। कोलार थाना प्रभारी गौरव सिंह बुंदेला ने बताया कि 23 वर्षीय श्रृष्टि शर्मा पुत्री दुरेंद्र शर्मा कोलार स्थित ओरियन ब्लॉक पार्क-3 में किराए के फ्लैट में रहती थी। वह मूलत: बेगूसराय बिहार की रहने वाली थी और यहां पिछले 5 सालों से बेगूसराय के ही निवासी दीपक सिंह के साथ लिव-इन-रिलेशनशिप में थी। दीपक भोपाल से बीपीओ की पढ़ाई कर रहा है। रविवार देर रात श्रृष्टि ने फ्लैट में ही फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। रात करीब 11 बजे दीपक घर पहुंचा और दरवाजा नॉक किया। काफी देर तक श्रृष्टि ने दरवाजा नहीं खोला, तो उसने खिड़की पर रखी दूसरी चाबी से दरवाजा खोला। घर में दाखिल होते ही दीपक की नजर पंखे से लटकी श्रृष्टि पर पड़ी। यह देखकर दीपक ने फौरन पड़ोसियों को मदद के लिए बुलाया। उधर, सूचना के बाद मौके पर पहुंची ने शव को पीएम के लिए भेजकर कमरे का सील कर दिया है। पुलिस ने श्रृष्टि के फ्लैट से डायरी और मोबाइल फोन सहित कुछ अन्य सामान जब्त किया है। पुलिस के अनुसार डायरी और मोबाइल से कई अहम सुराग हाथ लग सकते हैं। श्रृष्टि का लिव-इन पार्टनर फिलहाल पुलिस हिरासत में ही है। पुलिस की सूचना के बाद भोपाल पहुंचे मृतिका के परिजनों की उपस्थिति में पीएम कराया गया।


एमपीपीएस का रिजल्ट घोषित, भोपाल के रवीश रहे 7वें नंबर पर
Our Correspondent :2 Feb. 2017
मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग ने सोमवार को एमपी पीएससी 2014 का फाइनल रिजल्ट घोषित कर दिया। इसमें भोपाल के रवीश श्रीवास्तव ने 7वीं और सौम्या अग्रवाल ने 15वीं रैंक हासिल की। वहीं, कीर्ति असाटी की रैंक 25वीं रही। गौरतलब है कि 2015 में हुई इसकी प्रारंभिक परीक्षा में प्रदेशभर से 250 लाख स्टूडेंट्स शामिल हुए थे और आठ हजार कैंडिडेट्स ने मेन्स दिया था। इंटरव्यू की प्रक्रिया 5 नवंबर तक चली। सिटी भास्कर से बातचीत में इन रैंकर्स ने बताया कि एग्जाम की तैयारी इन्होंने बिना किसी प्रेशर के की। लेकिन जिस एक बात का ध्यान रखा, वो था समय का अनुशासन। सोशल साइट्स से कोसों दूर हूं "वॉट्सऐप, फेसबुक जैसी सोशल साइट्स आज युवाओं की जिंदगी का हिस्सा बन चुकी हैं, लेकिन मैं इनसे आज भी कोसों दूर हूं।" यह कहना है एमपी पीएससी में 7वीं रैंक प्राप्त करने वाले रवीश श्रीवास्तव का। उन्हें डिप्टी कलेक्टर की पोस्ट मिली है। बीयू आईटी से इंजीनियरिंग करने वाले रवीश को प्रशासनिक सेवा में जाने की प्रेरणा उनके बड़े भाई से मिली, जो वर्तमान में छत्तीसगढ़ में डीएसपी हैं। पीएससी की तैयारी उन्होंने बिना किसी तनाव के रोजाना चार से पांच घंटे तक की। डिप्टी कलेक्टर की नई मिलने वाली जिम्मेदारी के लिए उन्होंने कहा कि एडमिनिस्ट्रेशन और आमलोगों के बीच काफी डिस्टेंस है। इस दूरी को खत्म कर काम करने का पूरा प्रयास करेंगे।


अफसरों ने कागजों में दिला दी नौकरी बेरोजगार ही बैठे हैं युवा
Our Correspondent :31 Jan. 2017
भोपाल: मुख्यमंत्री भले ही युवा बेरोजगारों को रोजगार मेलों के जरिए नौकरी दिलाने के बड़े-बड़े दावे कर रहे हों, लेकिन उनके दावों पर अफसर ही पानी फेर रहे हैं। रोजगार मेलों में ऐसी कंपनियों को बुलाया जा रहा है, जिनमें कोई पद खाली ही नहीं है। ऐसे में कंपनियां युवाओं का चयन तो कर लेती हैं, लेकिन उन्हें नौकरी के लिए नहीं बुलातीं।
कुछ युवाओं को तो कंपनियों ने तीन से चार बार सिलेक्ट कर लिया, लेकिन नौकरी के लिए आज तक नहीं बुलाया। पिछले दिनों मुख्यमंत्री के गृह जिले के सीहोर, गुना और राजगढ़ में रोजगार मेले में फिर यही स्थिति बनी तो युवाओं का गुस्सा फूट पड़ा। बेरोजगारों ने नाराजगी जाहिर की तो कंपनियों ने सरकारी अफसरों को ही जिम्मेदार ठहरा दिया। नईदुनिया ने जब जिला दर जिला इन मेलों की हकीकत जानी तो चौंकाने वाले खुलासे हुए
भले पद खाली न हों, इंटरव्यू लेने तो आ ही जाइए
राजगढ़ : 36 युवाओं को नौकरी देने का दावा, एक को भी नहीं मिली
18 नवंबर 2016 को नरसिंहगढ़ में रोजगार मेले में 13 कंपनियों ने 638 बेरोजगार युवाओं का इंटरव्यू लिया। 36 का चयन किया। नईदुनिया ने जब इन सभी युवाओं से फोन कर पूछा कि आपको नौकरी मिली या नहीं? इस पर जवाब मिला- चयन तो हो गया था लेकिन कंपनियों ने बुलाया ही नहीं। कंपनियों का कहना है कि उनके पास अभी पद रिक्त नहीं हैं।
नईदुनिया की पड़ताल में सामने आया कि ऐसी कंपनियों को मेले में बुला लिया गया जिनके पास या तो पद रिक्त नहीं हैं या फिर उनकी यूनिट बंद हो चुकी हैं। ब्यावरा की मधुमिलन इंडस्ट्रीज की 2 यूनिट लंबे समय से बंद हैं। कंपनी घाटे में है, कर्ज न चुका पाने पर बैंक ने यूनिटें सील कर दी हैं। सरकारी दबाव में इस कंपनी ने भी स्टॉल लगाकर युवाओं के इंटरव्यू ले लिए।
बीसीए पास युवा इंटरव्यू में सिलेक्ट, कंपनी ने नहीं बुलाया
राजगढ़ के मोनू शर्मा बीसीए पास हैं। 18 नवंबर को मेले में गुना से आई आईएल एंड एसएस कंपनी के प्रतिनिधि योगेंद्र मिश्रा ने साक्षात्कार लिया। सिलेक्ट होने पर कंपनी प्रबंधन ने उन्हें 15 दिन बाद ज्वाइनिंग देने की बात कही, लेकिन कोई फोन नहीं आया। जब कंपनी में फोन लगाकर पूछा तो बताया गया कि अभी जगह खाली नहीं है। नईदुनिया ने योगेंद्र मिश्रा से पूछा कि जब आपके पास पद रिक्त नहीं थे तो आपने स्टाल ही क्यों लगाया। इस पर उन्होंने कहा- अधिकारियों को पहले ही बता दिया था।
गुना - बेरोजगार बोले- मेरा चयन हो गया, ये भी आपसे ही सुन रहा हूं
गुना जिले में 11 जुलाई 2016 को लगाए गए रोजगार मेले में विभाग ने 429 को नौकरी दिलाने का दावा किया। नईदुनिया की पड़ताल में अफसरों का दावा झूठा निकला। नईदुनिया ने सभी युवाओं से फोन कर पूछा कि क्या आपको नौकरी मिली। जवाब मिला- नहीं। कुछ युवाओं ने तो यहां तक कहा कि हमारा चयन हो गया है, ये भी आपसे ही सुन रहा हूं। ये हाल तब है, जब विभाग का दावा है कि उन्हें एक साल में 1200 नौकरी दिलाने का लक्ष्य मिला था, लेकिन हमने 1570 को नौकरी दिला दी। जबकि हकीकत यह है कि किसी भी युवा को नौकरी नहीं मिली।
पहले कहा- चयन हो गया फिर कहा- अभी जगह खाली नहीं
म्याना के हरीगिरी गोस्वामी ने भी आवेदन किया था। उस समय अधिकारियों ने बताया था कि तुम्हारा वेल्डर के लिए चयन हो गया है। लेकिन कंपनी के पास वैकेंसी नहीं है। होगी तब बुला लेंगे। लेकिन अभी तक कोई कॉल नहीं आया। गुना के रोजगार अधिकारी बीएस मीना का कहना है कि कुछ युवा ज्वाइन करने के बाद छोड़ देते हैं।


आईटीबीपी करेगी केंद्रीय जेल भोपाल की सुरक्षा
Our Correspondent :31 Jan. 2017
भोपाल: चाहे मुंबई के ऑथर रोड जेल में बंद कसाब की निगरानी हो या फिर राष्ट्रमंडल खेल। इंडो तिब्बत बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) के जवानों ने इस जिम्मेदारी को बखूबी निभाया है। अब आईटीबीपी के यही जवान केंद्रीय जेल भोपाल की भी सुरक्षा करेंगे।
सिमी आंतकियों के जेल ब्रेक के बाद सुरक्षा को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है। आईटीबीपी की टीम ने तीन दिन पहले जेल का दौरा करने के बाद अपनी मंजूरी दे दी है। जेल मुख्यालय से इसका प्रस्ताव वित्त विभाग को भेजा जा चुका है। वहां से अनुमति मिलते ही आईटीबीपी के जवान जेल की सुरक्षा अपने हाथ में ले लेंगे।
वित्त विभाग से मंजूरी मिलना तय
आईटीबीपी का गठन उत्तरपूर्व में चीन की हरकतों को देखते हुए सीमाओं की सुरक्षा करने के लिए किया गया था, लेकिन बाद में इसका कार्यक्षेत्र बढ़ा दिया गया। अब आईटीबीपी देश भर में सुरक्षा के लिए राज्य सरकारों की पहली पंसद बन गई हैं। सूत्रों की माने तो आईटीबीपी पर होने वाला खर्च वजट में है। ऐसे में वित्त विभाग से इसे मंजूरी मिल जाएगी।
इस तरह होगी सुरक्षा
जेल की सुरक्षा आंतरिक और बाहरी घेरे में होती है। जेल के अंदर किसी को भी जाने की अनुमति नहीं होती है। आईटीबीपी की टीम भी जेल के बाहरी सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी लेगी। उनकी अनुमति और जांच के बिना अब न तो कोई जेल के अंदर जा सकेगा और न ही बाहर आ सकेगा।
इसलिए जरूरी
जेल ब्रेक कांड के दौरान सुरक्षा को लेकर लापरवाही उजागर हुई थी। सिमी के आंतकियों के चलते यहां की सुरक्षा बढ़ाए जाने का दवाब प्रशासन पर लगातार बढ़ रहा था, इसलिए आईटीबीपी को यह जिम्मेदारी सौंपने का निर्णय लिया गया।


भोपाल कलेक्टर कार्यालय में अब नहीं चलेगी लेटलतीफी
Our Correspondent :31 Jan. 2017
भोपाल: कलेक्ट्रेट कार्यालय में अब कर्मचारियों की लेटलतीफी नहीं चलेगी। आदतन देरी से आने वाले कर्मचारियों पर अंकुश लगाने के लिए कलेक्ट्रेट कार्यालय में 1 फरवरी से बायोमीट्रिक हाजिरी सिस्टम शुरू किया जा रहा है। इसके लिए कलेक्ट्रेट कार्यालय में एनआईसी की छह स्थानों पर बायोमीट्रिक अटेंडेंस मशीनें लगाई जाएंगी।
सोमवार को कलेक्ट्रेट में बायोमीट्रिक हाजिरी का ट्रायल किया गया। इसके लिए स्थापना शाखा स्थित कार्यालय अधीक्षक कक्ष में एक बायोमीट्रिक हाजिरी मशीन लगाई गई थी। पहला दिन होने के कारण हाजिरी लगाने के लिए कलेक्ट्रेट कार्यालय में कर्मचारियों की कतार लग गई।
कार्यालय अधीक्षक भैय्यालाल शर्मा ने बताया कि हाजिरी के लिए कतार लगने के समस्या से निजात पाने के लिए अलग-अलग स्थानों पर 6 मशीनें लगाई जाएंगी, ताकि कोई भी कर्मचारी किसी भी मशीन पर उंगली पंच कर हाजिरी लगा सकेगा। कलेक्ट्रेट कार्यालय आने का वक्त सुबह 10.30 बजे है। हाजिरी लगाने के लिए कर्मचारियों को 10.30 से 11 बजे तक का वक्त होगा। इसके बाद पंच करने वाले कर्र्मचारी को लेट माना जाएगा। गौरतलब है कि कलेक्ट्रेट कार्यालय में अधिकारियों समेत लगभग 200 कर्मचारी कार्यरत हैं।


सहेली के घर ड्रेस बदलकर पहुंची FB फ्रेंड से मिलने, जॉब के लिए ले गई थीं दस्तावेज
Our Correspondent :30 Jan. 2017
भोपाल/होशंगाबाद: सूखा सरोवर के सरकारी गर्ल्स स्कूल की 10वीं की लापता 4 छात्राएं रविवार को मंडीदीप में मिली। शनिवार को स्कूल जाने के लिए निकली छात्राएं मॉल घूमने के लिए गईं थी। पुलिस के मुताबिक छात्राएं मंडीदीप के एक युवक से फेसबुक पर चैटिंग करती थीं। एफबी अकाउंट फर्जी था। उसी के झांसे में आकर इटारसी से मंडीदीप पहुंची थीं।
भोपाल में निक्की पटेल नामक युवक उन्हें अपने घर ले गया था। शनिवार की रात उन्हें एक मॉल में घुमाया। इसके बाद उक्त छात्राएं फेसबुक फ्रेंड के घर रुक गईं। पुलिस ने छात्राओं को फोन कॉल के आधार पर ढूंढ निकाला। छात्राओं की गुमशुदगी की सूचना देने रात 10 बजे सिटी थाने आए थे। पुलिस ने नाबालिग छात्राओं का मामला होने से अपहरण का केस दर्ज कर तलाशी शुरू की। पुलिस टीम गठित कर एएसआई केएन रजक, हेड कांस्टेबल रेखा मुनिया, कांस्टेबल राजेश को आधी रात को मंडीदीप भेजा गया।
गलत नाम से बनाई थी फेसबुक आईडी
आरोपी युवक निक्की चौरे मंडीदीप का रहने वाला है। उसने फेसबुक पर निक्की पटेल के नाम सरनेम बदलकर से आईडी बनाई। आरोपी ने खुद थाने में स्वीकार किया। आरोपी मूल रुप से सांगाखेड़ा कला का निवासी है। उसके पिता 20-25 साल से मंडीदीप में रह रहे हैं। थाने में शिकायत आने के 9 घंटे में ही पुलिस ने छात्राओं को ढूंढ निकाला। साथ में आरोपी युवक भी पकड़ाया है।
खुले विचारों में रहना चाहती थीं छात्राएं
छात्राएं घर से दूर रहकर जॉब करना चाहती थीं। खुले वातावरण में रहना चाहती थीं। पुलिस की पूछताछ में जानकारी मिली कि यह छात्राएं जींस, टीशर्ट जैसे कपड़े पहनना पसंद करती हैं। इस तरह के पहनावे पर छात्राओं के परिजन आपत्ति लेते थे। छात्राएं मिडिल क्लास फैमिली से हैं। लेकिन उन्हें मोबाइल, पहनावे काम मोह है।
जॉब करने की चाह में दस्तावेज भी ले गईं थीं
मंडीदीप पहुंचीं छात्राएं आधार कार्ड, जन्म प्रमाणपत्र व अन्य दस्तावेज लेकर गई थीं। इन छात्राओं ने एक सहेली के घर स्कूल यूनीफार्म चेंज की थी। दैनिक भास्कर में 29 जनवरी के प्रकाशित छात्राओं के घर से भागने वाली खबर में पहले अनुमान लगाया था कि छात्राएं जॉब करने भोपाल गईं होंगी। पूछताछ में छात्राओं ने जॉब करने व मॉल घूमने की बात कही।
शादी समारोह में हुई थी निक्की से दोस्ती
एएसआई केएन रजक और हेड कांस्टेबल रेखा मुनिया ने छात्राओं और आरोपी के बयान लिए। चार में से एक छात्रा को आरोपी निक्की चौरे इटारसी में शादी समारोह में मिला था। छात्राओं की निक्की से फेसबुक पर फ्रेंड बनाकर चेटिंग शुरू हुई। निक्की आॅटोरिक्शा चलाता था। निक्की बर्थडे मनाने इटारसी भी आया था।
ऐसे मिली थी जानकारी
-होशंगाबाद, मंडीदीप, इटारसी, भोपाल, तक पुलिस और जीआरपी कंट्रोल रूम को छात्राओं के बारे में जानकारी दी गई।
-एसडीओपी और टीआई ने पुलिस टीम भेजकर पुरानी इटारसी से छात्राओं के पुराने दोस्तों से भी पूछताछ की गई थी।
-छात्राओं के मोबाइल नंबर पर कॉल किए गए। इसी आधार पर शक के घेरे में आए एक युवक तक पुलिस पहुंची।
-लोकेशन मिलने पर करीब रात 2 बजे इटारसी से छात्राओं को ढूंढने पुलिस दल मंडीदीप रवाना कर दिया गया।
-रविवार की सुबह करीब 7 बजे छात्राएं व युवक निक्की मंडीदीप में बस स्टैंड से रेलवे स्टेशन जाते समय पुलिस को मिले।


पेट्रोल खत्म होते ही चोरी की कार छोड़कर भागा आरोपी, क्राइम ब्रांच ने ऐसे पकड़ा
Our Correspondent :30 Jan. 2017
भोपाल: भोपाल क्राइम ब्रांच ने बड़ी सफलता हासिल करते हुए एक वाहन चोर को गिरफ्तार किया है। आरोपी ने 14 जनवरी को मप्र राज्य कॉपी विपणन बोर्ड भोपाल की संयुक्त संचालक का सरकारी वाहन चुराया था। लेकिन, चूनाभट्टी के पास कार का पेट्रोल खत्म हो गया था। इस पर आरोपी कार में रखा मोबाइल लेकर और कार को मौके पर ही छोड़कर फरार हो गया था।
मोबाइल बेचने के लिए घूम रहा था आरोपी
क्राइम ब्रांच पुलिस को रविवार देर शाम मुखबिर से सूचना मिली थी कि ज्योति टॉकीज एमपी नगर के पास एक युवक औने-पौने दाम में मोबाइल फोन बेचने की फिराक में घूम रहा है। मौके पर पहुंची पुलिस ने घेराबंदी कर युवक को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया। पकड़े गए युवक का नाम आदित्य तनवर (36) पिता अशोक कुमार तनवर है, जो कि त्रिलंगा में रहता है। थाने में हुई पूछताछ के दौरान युवक ने अपना जुर्म कबूल कर लिया।
चुराई थी एक बाइक
-पूछताछ में आरोपी ने बताया कि उसने 14 जनवरी को हबीबगंज इलाके के बांसखेड़ी चौराहे से एक वैगनआर कार (क्रमांक-एमपी-04 सीए 6442) चुराई थी।
-यह कार मध्य प्रदेश राज्य कॉपी विपणन बोर्ड भोपाल की संयुक्त संचालक स्मिता की थी।
-आरोपी कार लेकर भाग रहा था उसी वक्त चूनाभट्टी के पास कार का पेट्रोल खत्म हो गया था, इसलिए आरोपी ने कार वहीं छोड़ दी और उसमें रखा मोबाइल लेकर फरार हो गया था।
-आरोपी ने कबूला किया है कि उसने 24 जनवरी को एमपी नगर क्षेत्र से एक हीरो होंडा बाइक (क्रमांक एमपी04 केएम 8428) भी चुराई थी।
- पुलिस ने आरोपी के पास से एक चोरी की बाइक और एक मोबाइल फोन बरामद किया है। इनकी अनुमति कीमत कुल 90 हजार रुपए आंकी जा रही है।
-आरोपी के खिलाफ क्राइम ब्रांच द्वारा वैधानिक कार्रवाई कर उसे संबंधित थानों को सुपुर्द किया गया।


शूटिंग से ब्रेक लेकर सैर पर निकली टीवी की ये बहू, हबी के संग यूं किया Enjoy
Our Correspondent :30 Jan. 2017
भोपाल: टीवी की मशहूर बहू दिव्यांका त्रिपाठी अपने पति विवेक दाहिया के साथ भोपाल शहर की सैर करती नजर आईं। दरअसल ये कपल अपनी शूटिंग के बिजी शूड्यूल से ब्रेक लेकर यहां पहुंचा। इस दौरान दिव्यांका ने अपने सिर को दुपट्टे से ढक रखा था, लेकिन वहां माैजूद लोगों ने उन्हें पहचान ही लिया। इसके बाद उनके फैंस ने उनसे सेल्फी और फोटोज की रिक्वेस्ट की तो यह रोमांटिक कपल उन्हें न नहीं कह सका।
- बता दें कि दिव्यांका का मायका भोपाल में है और वे यहीं पली-बढ़ीं हैं। उनकी शादी चंडीगढ़ के विवेक से हुई है।
- इस विजिट में वे मूड को रिलैक्स करने वन विहार पहुंचे। उसके बाद बोट क्लब में बोटिंग का जमकर लुत्फ उठाया।
- इस कपल ने बताया कि उनका शूटिंग का शेड्यूल काफी टाइट है। इसके चलते उन्हें सोमवार सुबह की फ्लाइट से मुंबई जाना होगा।
- इस विजिट में विवेक के पिता सीआर दाहिया और मां मंजू साथ थे तो दिव्यांका के पिता नरेन्द्र त्रिपाठी और मां नीलम त्रिपाठी भी थे।
दिव्यांका ने कहा- ऐसा ही है यहां के लोगों का प्यार
- बता दें कि इस कपल की शादी भोपाल में ही हुई थी। इसके बाद उनका शहर में कम ही आना हुआ है।
- दिव्यांका ने बताया कि उनके पति विवेक ने ही उनसे शूटिंग से ब्रेक मिलते ही भोपाल घूमने की इच्छा जाहिर की थी।
- यहां आने के बाद शहर की खूबसूरती और लोगों का ऐसा वेलकम देखकर विवेक का यहां से जाने का मन ही नहीं कर रहा। जिसपर दिव्यांका ने कहा कि "ऐसा ही है यहां के लोगों का प्यार।"
एयरपोर्ट पर पहुंची एक खास फैन
- मुंबई वापसी के दौरान इस कपल के एक खास फैन भी नजर आई।
- ये नन्हीं फैन थी 9 साल की गौरांशी शर्मा, जो अपने माता-पिता के साथ अपनी फेवरिट एक्ट्रेस दिव्यांका से मिलने एयरपोर्ट पहुंची थी।
- गौरांशी स्पेशल कैटेगरी में नेशनल लेवल की बैडमिंटन प्लेयर है। उसके पिता गौरव शर्मा और प्रीती शर्मा भी उसकी तरह बोल और सुन नहीं सकते।
- ये फैमिली दिव्यांका के इतने बड़े फैन है कि उनका कोई भी एपिसोड मिस नहीं करते हैं। उनसे मिलने की बेसब्री में वे रातभर सो नहीं सके और अलसुबह ही एयरपोर्ट पहुंच गए।
- रोमांटिक कपल ने उनके साथ ढेराें फोटोज और सेल्फी ली और उनके इस प्यार को देखकर कहा कि वे इस टूर काे कभी नहीं भूल पाएंगे।


भोपाल में कपड़े की दुकान का शटर उठाकर 50 हजार रुपये चोरी
Our Correspondent :28 Jan. 2017
भोपाल: लखेरापुरा इलाके में एक कपड़ा कारोबारी की दुकान में चोरी का मामला सामने आया है। आरोपियों ने देर रात दुकान का गली की तरपु उठाकर दुकान के अंदर घुसे और गल्ले में से नकद 50 हजार रकम लेकर फरार हो गए। पुलिस ने शिकायत पर चोरी की एफआईआर दर्ज कर ली हैं कोतवाली पुलिस के अनुसार तलैया में रहने वाली महेंद्र अग्रवाल पिता रामबाबू अग्रवाल (46) उनकी लखेरपुरा में महेंद्र क्लोथ स्टोर के नाम से दुकान है।
उनकी दुकान के दो शटर हैं, एक मेन बाजार की तरफ और दूसरा गली की तरफ खुलता है। गुरुवार रात वह दुकान बंद करके घर गए थे। सुबह आकर देखा, तो दुकान के गली की तरफ का शटर उठाकर किसी ने दुकान में प्रवेश किया। जहां दुकान का सामान तितर- बितर करने के बाद आरोपी दुकान के गल्ले से 50 हजार नगर और कीमती सामान लेकर फरार हो गए।
पुलिस ने शिकायत के बाद एफआईआर दर्ज कर ली है। वहीं दूसरी चोरी की वारदात अशोका गार्डन वर्धमान ग्रीन पार्क कॉलोनी में हुई। जहां रहने वाले हुसैन खा पिता वजीर खा परिवार को साथ लेकर सागर एक रिश्तेदार की शादी में गए थे। शुक्रवार को सुबह वापस आकर देखा , तो घर के दरवाजे पर लगे ताले टूटे थे। अज्ञात आरोपी करीब एक कीमत का सामान लेकर फरार हो गए। पुलिस ने शिकायत के बाद अज्ञात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।


रुस्तमजी पुरस्कार को लेकर असंतोष फूटा, होमगार्ड के जवानों ने लगाया उपेक्षा का आरोप
Our Correspondent :28 Jan. 2017
भोपाल: होमागार्ड ने कुंभ में ड्यूटी करने वाले सिर्फ पुलिसकर्मियों को सम्मानित करने पर आक्रोश जताया है। पुलिस ने विरोध करते होमगार्ड के कुछ जवानों को पकड़ा है। होमगार्ड के कुछ जवानों का कहना है कि, सरकार ने इस बहाने पुलिस की पंचायत बुलाई थी।
-नेहरू नगर पुलिस लाइन में शनिवार को आयोजित पुलिस के अतिविशिष्ट 'रुस्तमजी पुरस्कार' को लेकर होमगार्ड नाराज हैं। वे इस बात का विरोध जता रहे हैं कि, ड्यूटी उन्होंने भी, बावजूद उन्हें उपेक्षित किया गया।
-इस बीच कार्यक्रम का विरोध करने आ रहे होमगार्ड के दो दर्जन जवानों को हबीबगंज स्टेशन पर गिरफ्तार कर लिया गया।
-होमगार्ड के जवानों का आरोप है कि,पुरस्कार के बहाने सरकार ने पुलिस पंचायत बुलाई है। इसके लिए स्पेशल कोटे से 50 लाख का बजट जारी किया गया।
-इससे पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पुलिसकर्मियों और अफसरों को पदक वितरण किए। अध्यक्षता गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने की।
-इसमें 40 पुलिस कर्मचारी और अफसरों को पुरस्कृत किया गया। 75 को प्रतीक स्वरूप सिंहस्थ पदक दिए गए। 24 हजार पुलिसकर्मियों को उनके जिलों में सिंहस्थ पदक से सम्मानित किया गया।
सभी जिलों में सिंहस्थ ज्योति पदक वितरण समारोह होंगे
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि अच्छे कार्यों का सम्मान जरूरी है। सिंहस्थ ज्योति पदक का वितरण समारोह पूर्वक किया जाएगा। प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में कार्यक्रम का आयोजन होगा, जिसमें संबंधित जिले के प्रभारी मंत्री और पुलिस मुख्यालय के वरिष्ठ अधिकारी शामिल होंगे। मुख्यमंत्री पुलिस लाइन में सिंहस्थ ज्योति पदक और रुस्तम जी पुरस्कार वितरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने बेटियों के मान-सम्मान और गरिमा से जुड़े विषयों को पाठ्यक्रम में भी शामिल किए जाने की जरूरत बताई।
सीएम ने कहा
मध्य प्रदेश पुलिस द्वारा सिंहस्थ-2016 के आयोजन में सेवा और समर्पण की अदभुत मिसाल कायम की है। पुलिस का व्यवहार, वाणी और दृष्टिकोण अदभुत था।
-विपरीत परिस्थितियों में भी प्रदेश की पुलिस ने सदैव उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है। उसे जो कार्य सौंपा गया, पुलिस ने सफलता से किया है। किसी समय दस्यु समस्या से पीड़ित प्रदेश में आज एक भी सूचीबद्ध गिरोह नहीं है।
-जेल ब्रेक की घटना का उल्लेख करते हुए कहा कि पुलिस की तत्परता ने बहुत बड़ी अनहोनी को रोक दिया। उन्होंने कहा‍कि पुलिस का कार्य कानून का राज कायम करना है। अपराधियों के साथ वज्र से कठोर और आमजन के साथ फूल से कोमल व्यवहार किया जाए।
-माताओं-बहनों के साथ अपराध स्वीकार नहीं है। चिन्हित अपराधों में कड़ी कार्रवाई की जाए। अबोध बालिकाओं के साथ दुराचार करने वाले को फांसी के फंदे पर ही लटकाना चाहिए। इस संबंध में वैधानिक प्रावधानों के संबंध में अध्ययन करवाने और सुझाव प्राप्त करने के लिए कहा।
-मद्य निषेध वाले राज्यों की व्यवस्‍थाओं का गंभीरता से अध्ययन करवाया जा रहा है। विगत चार वर्षों में नई शराब की दुकान नहीं खोली गई है। शराब निर्माण की फैक्ट्री भी नहीं लगने दी गई है। नर्मदा तट के किनारों पर शराब की दुकानें नहीं रहेगी। उन्होंने पदक, पुरस्कार से सम्मानित पुलिसकर्मियों और पुलिस प्रशिक्षण महाविद्यालय इंदौर को उनकी सफलताओं के लिए बधाई दी।
गृहमंत्री ने कहा
-गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि पुलिस ने सिंहस्थ के सफल आयोजन द्वारा मध्य प्रदेश का गौरव बढ़ाया है। सिंहस्थ 2016 का सफल आयोजन कर, मध्य प्रदेश की पुलिस ने कीर्तिमान स्थापित किया है। पुलिस के प्रति विश्वास का नया वातावरण निर्मित हुआ है। मध्य प्रदेश पुलिस का कार्य देश में सबसे अच्छा है।
ये बोले
पुलिस महानिदेशक ऋषि कुमार शुक्ला ने स्वागत उदबोधन दिया। उन्होंने कहा कि सिंहस्थ-2016 के वृहद् आयोजन को सफल बनाने में 25 हजार से अधिक पुलिस के अधिकारी-कर्मचारियों का योगदान है। कार्यक्रम में पुरस्कृत कर्मचारियों के प्रतिनिधि के रूप में अधिकारी-कर्मचारियों को सिंहस्थ ज्योति पदक से सम्मानित किया जा रहा है।
उन्होंने बताया कि मध्य प्रदेश पुलिस के प्रथम प्रमुख केएफ रुस्तमजी की स्मृति में पुरस्कार स्थापित किया गया है। कार्यक्रम में रुस्तम जी के कृतित्व और व्यक्तित्व पर आधारित 'खाकी' फिल्म का प्रदर्शन किया गया। फिल्म का निर्माण मध्यप्रदेश पुलिस के लिए राष्ट्रीय फिल्म विकास निगम द्वारा किया गया है।
मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में तत्कालीन अपर मुख्य सचिव गृह और पुलिस महानिदेशक सहित अधिकारियों को पदक से सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में राजस्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता, सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विश्वास सारंग, मुख्य सचिव बीपी सिंह और पूर्व पुलिस महानिदेशक सुरेंद्र सिंह भी मौजूद थे।
गृह मंत्री को मिला पदक
मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में गृह मंत्री भूपेन्द्र सिंह को भी सिंहस्थ ज्योति पदक से सम्मानित किया। उन्होंने सिंहस्थ के दौरान उनकी सेवाओं की सराहना की। उन्होंने कहा कि व्यवस्थाओं के प्रभावी संचालन के लिए गृह मंत्री पूरे 73 दिनों तक उज्जैन में मुख्यालय बनाकर रहे। गृह मंत्री का आयोजन की सफलता में महत्वपूर्ण योगदान है। मुख्यमंत्री की अनुशंसा पर कार्यक्रम में ही भूपेन्द्र सिंह को सिंहस्थ ज्योति पदक से सम्मानित किया गया।


यहां मन्नत पूरी होने पर चप्पल चढ़ाते हैं लोग, जानिए कहां है ये मंदिर
Our Correspondent :28 Jan. 2017
भारत की कई आश्चर्यजनक कर देने वाली मंदिरों में से एक जीजा बाई मंदिर अपने अनोखे वजह से जानी जाती है। अक्सर आप मंदिर के अंदर प्रवेश करने से पहले अपने चप्पल-जूते जरूर उतारते होंगे, ऐसा न करने पर यह ईश्वर अपमान माना जाता है। लेकिन इस मंदिर में विराजीं दुर्गा मां की मूर्ति पर प्रसाद के बजाए तरह-तरह के आकर्षित कर देने वाले चप्पल-जूते चढ़ाए जाते हैं। इस गांव की यह आस्था कई वर्ष पुरानी और बेहद ही प्रचलित है। ऐसा माना जाता है कि आज भी यहां पर मन्नत पूरा होने पर चप्पल और जूते चढ़ाए जाते हैं।
मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के कोलार क्षेत्र में जीजी बाई का यह मंदिर एक पहाड़ी पर है। माता के दरबार में नवरात्र में भक्तों की भीड़ रहती है। इस बार भी गुप्त नवरात्रि के मौके पर यहां सैकड़ों भक्त माता के दरबार में पहुंचेंगे।
विदेशों से भक्त भेजते हैं माता के लिए सैंडिल
महराज ओम प्रकाश के मुताबिक यहां आने वाले कुछ भक्त विदेश में बस गए, लेकिन वे नहीं आ पाते। इसलिए किसी रिश्तेदार के हाथों या डाक से माता के लिए सैंडिल भेज देते हैं।
घड़ी, चश्मा और टोपी भी चढ़ाते हैं लोग
गर्मी के मौसम में इस मंदिर में चप्पल के साथ-साथ चश्मा, टोपी और घड़ी भी चढ़ाई जाती है। ओम प्रकाश महाराज के मुताबिक यहां मां दुर्गा की देखभाल एक बेटी की तरह की जाती है। कई बार उन्हें ये आभास होता है कि देवी खुश नहीं हैं, तो दिन में दो-तीन घंटे के बाद माता के कपड़े भी बदले जाते हैं।
पहाड़ावाला मंदिर भी दूसरा नाम
जीजी बाई का मंदिर भोपाल के कोलार क्षेत्र की एक छोटी पहाड़ी पर है। इसे सिद्धदात्री पहाड़ावाला मंदिर भी कहा जाता है। ऐसी मान्यता है कि करीब 18 साल पहले ओम प्रकाश नाम के एक महराज ने मूर्ति स्थापना की थी। इस महाराज ने तब शिव-पार्वती का विवाह कराया था और खुद कन्यादान किया था। तब से ओम महाराज मां सिद्धदात्री को अपनी बेटी मानकर पूजा करते हैं। उन्होंने कहा कि बेटी की सेवा में कोई कमी नहीं रह जाए इसलिए वे बेटी के उपयोग का सभी सामान उन्हें अर्पित करते हैं।


बारिश के कारण कुटिया में फैला करंट, साधू की मौत, शुक्रवार सुबह चला मालूम
Our Correspondent :27 Jan. 2017
भोपाल: पंजाबी बाग स्थित एक मंदिर के पास कुटिया बनाकर रह रहे पुजारी रामदास महाराज की गुरुवार देर रात करंट लगने से मौत हो गई। शुक्रवार सुबह मंदिर पहुंचे एक भक्त ने घटना की जानकारी अशोका गार्डन पुलिस को दी। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पीएम के लिए भेजकर मामले की जांच शुरू कर दी है।
पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पुजारी रामदास काफी बुजुर्ग थे। वे मंदिर के पास स्थित कुटिया में अकेले ही रहते थे। पुलिस अनुमान लगा रहे हैं कि गुरुवार को हुई तेज बारिश के कारण पुजारी की कुटिया में करंट फैल गया होगा, जिसकी चपेट में आने से उनकी मौत हो गई।


मप्र में जन्मा सबसे वजनी 5.5KG का बेबी, जानें क्या है रिकॉर्ड
Our Correspondent :27 Jan. 2017
भोपाल: राजधानी के हजेला हॉस्पिटल में गणतंत्र दिवस पर 5.5KG के बच्चे ने इस दुनिया में कदम रखकर MP में एक रिकॉर्ड कायम किया है। एक प्राइवेट कंपनी में एरिया मैनेजर की पत्नी सोनिया(25) की यह पहली डिलेवरी है। आमतौर पर एक सामान्य नवजात का वजन 2.5-3 KG तक होता है।
पिता को हुआ डबल खुशी का एहसास
भोपाल के कोलार क्षेत्र में रहने वाले एक प्राइवेट कंपनी में एरिया मैनेजर शेखर गव्हाड़े(30) की पत्नी सोनिया(25) को प्रसव पीड़ा होने पर पीएंडटी चौराहे स्थित हजेला हॉस्पिटल में एडिमट कराया गया था। वहां चेकअप के बार डॉ. रजनी हजेला को बेबी नार्मल नजर नहीं आया। उन्होंने सिजिरियन डिलेवरी की सलाह दी। गुरुवार दोपहर 12.6 बजे सोनिया ने बच्चे को जन्म दिया। इसका वजन 5.5KG है। सोनिया की यह पहली डिलेवरी है। शेखर के मुताबिक, डॉक्टर ने चेकअप के बाद ही बेबी का वजन ज्यादा होने की संभावना व्यक्त की थी।
डा. रजनी के मुताबिक, आमतौर पर ऐसी महिलाओं को शुगर होने की आशंका होती है। लेकिन जब हमने सोनिया का चेकअप किया, तो उसे कोई बीमारी नहीं निकली। जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ्य हैं। वे डॉ. सोमशेखर वेल्लोरी के आब्जर्वेशन में हैं। संभवत: यह मप्र का पहला वजनी बच्चा है। सामान्यत: बच्चे का वजन जन्म के समय ढाई से तीन केजी तक होता है।
रांची में जन्मा था 5.5 केजी का बच्चा
अप्रैल, 2013 में रांची(झारखंड) के लक्ष्मी नर्सिंग होम में हेसाग की रंजना देवी ने भी 5.5 केजी के बच्चे को जन्म दिया था। वहीं 23 मई, 2016 में कनार्टक के हासन इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस(HIMS) में 19 वर्षीय नंदिनी ने 6.82 KG के बच्चे को जन्म दिया था। इसे एक नया विश्व रिकॉर्ड माना गया था। इससे पहले यह रिकॉर्ड 2014 में मैसाच्यूसेट्स(अमेरिका) में 6.3KG के बच्चे का जन्म हुआ था। इसके बाद 2015 के नवंबर में भारत में ही फिरदौस खातून ने 6.3KG से अधिक बच्चे को जन्म दिया था। हालांकि इससे पहले दुनिया के सबसे अधिक वजनी बच्चे का रिकॉर्ड कनाडा में 1879 में जन्मे 10.4KG के बच्चे के नाम था। हालांकि वह 11 घंटे ही जीवित रह सका था। इससे पहले 1955 में इटली में 10KG के बच्चे का जन्म हुआ था।


भोपाल, ग्वालियर सहित प्रदेश के कई इलाकों में ओलावृष्टि और बारिश
Our Correspondent :27 Jan. 2017
भोपाल, ग्वालियर: गणतंत्र दिवस के दिन प्रदेश के कई इलाकों में अचानक मौसम ने करवट ले ली। भोपाल, ग्वालियर, मुरैना, भिंड, शिवपुरी, सीहोर में ओलावृष्टि हुई, वहीं हरदा, सतना, बुरहानपुर सहित कई इलाकों में तेज बारिश हुई। नीमच में गणतंत्र दिवस कार्यक्रम के पहले सुबह से ही बूंदा-बांदी शुरू हो गई थी। तेज आंधी से ग्वालियर के पास बानमोर रेलवे स्टेशन पर एक पेड़ गिर गया, जिससे वेटिंग हॉल में बैठे कुछ यात्री घायल हो गए।
नींबू के आकार के ओले
कई इलाकों में ओलावृष्टि के दौरान नींबू के आकर के ओले गिरे। जिससे गेहूं और अन्य फसलों को भारी नुकसान पहुंचने की आशंका है। सीहोर के इछावर क्षेत्र में 200 ग्राम वजन तक के ओले गिरे, यहां पालखेड़ी और जमोनिया फतेहपुर में बारिश के बाद किसानों की फसल खराब हो गई। सतना में रात तीन बजे से तेज बारिश शुरू हो गई, जिससे अचानक ही ठंड बढ़ गई।


यूं पगड़ी बांधकर पहुंचे बाइकर्स, मंत्री ने बाइक से घूमा पूरा शहर और दिया MSG
Our Correspondent :25 Jan. 2017
भोपाल: गणतंत्र दिवस के एक दिन पहले छात्रों और बच्चों में देशभक्ति का जज्बा जगाने के लिए शहर में तिरंगा यात्रा निकाली गई। यात्रा में 500 से अधिक बाइक-सवार राष्ट्रीय-ध्वज के तीन रंगों की पोषाक पहनकर शामिल हुए। सहकारिता राज्य मंत्री विश्वास सारंग ने रैली का नेतृत्व किया। इस दौरान स्कूली बच्चों ने रैली में शामिल लोगों पर फूल बरसाए।
देशप्रेम की भावना जगाने हुई रैली
इस यात्रा में सरकारी और निजी स्कूलों के बच्चे शामिल हुए, जिन्होंने मानव-श्रंखला बनाई। राज्य मंत्री सारंग ने बताया कि हमारे देश के राष्ट्रीय त्यौहार 26 जनवरी और 15 अगस्त पूरे देशप्रेम की भावना के साथ मनाया जाना चाहिए। देश की भावी पीढ़ी आजादी के मूल्यों को जाने और उसे बरकरार रखने में अपना योगदान दे, इस दृष्टि से इस तरह के आयोजन महत्वपूर्ण हैं। इस मौके पर नरेला विधानसभा क्षेत्र के 17 वार्ड के प्रत्येक वार्ड से 30 बाइक-सवार तिरंगे रंग की पगड़ी पहनकर यात्रा में शामिल हुए।
इन रास्तों होकर निकली रैली
यह यात्रा अन्ना नगर स्थित हेमा चौराहा से शुरु होकर चेतक ब्रिज, कस्तूरबा नगर, गौतम नगर, चारधाम मंदिर, रचना नगर, जनता क्वार्टर, कैलाश नगर, गोविंदपुरा हाट, आचार्य नरेन्द्र देव नगर, ओल्ड सुभाष नगर, अप्सरा चौराहा, अर्जुन नगर, प्रभात चौराहा, मिश्रा चौराहा, नगर निगम मार्केट, परिहार चौराहा, विवेकानंद चौराहा, दुर्गाधाम मंदिर, सोनिया गांधी कॉलोनी, हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी, ऐशबाग फाटक, माली मार्केट, चाणक्यपुरी, तीन खम्बा, संतोषी माता मंदिर, पुष्पा नगर चौराहा, महामाई का बाग, बजरिया चौकी, सौरभ कॉलोनी, सांई मंदिर, अशोका गार्डन थाना, स्वदेश नगर, सुंदर नगर, सेमरा मंदिर, विजय नगर, खुशीपुरा, राजेन्द्र नगर, कृष्णा नगर, द्वारका नगर, छोला मंदिर, नवजीवन कॉलोनी, टिम्बर मार्केट, नगर निगम कॉलोनी, शंकर नगर, उडिय़ा बस्ती, नीलकंठ कॉलोनी, विश्वकर्मा नगर, कपिला नगर, हाउसिंग बोर्ड चौराहा, बारह दुकान, रुसल्ली, नटखट चौक, पीपल चौराहा, करोंद चौराहा, कृषक नगर, वकील कॉलोनी, रतन कॉलोनी, मोतीलाल नगर, अखिलेश्वर मंदिर, श्रीराम ट्रांसपोर्ट, कमलेश नगर, बड़वई, नयापुरा, संजीव नगर, नेवरी, द्वारकाधाम, इलेक्जर गार्डन से होती हुई करोंद चौराहे पर खत्म हुई।
मंत्री ने की बात
सारंग ने बताया कि यात्रा में अनुशासन बनाए रखने के लिए पिछले एक हफ्ते से सभी वार्ड से शामिल होने वाले बाइक-सवार और बच्चों को प्रशिक्षण दिया गया है। यात्रा के दौरान मार्ग अवरुद्ध न हो, इसका भी पूरा ध्यान रखा गया है।


 



 
Copyright © 2014, BrainPower Media India Pvt. Ltd.
All Rights Reserved
DISCLAIMER | TERMS OF USE