Untitled Document


register
REGISTER HERE FOR EXCLUSIVE OFFERS & INVITATIONS TO OUR READERS

REGISTER YOURSELF
Register to participate in monthly draw of lucky Readers & Win exciting prizes.

EXCLUSIVE SUBSCRIPTION OFFER
Free 12 Print MAGAZINES with ONLINE+PRINT SUBSCRIPTION Rs. 300/- PerYear FREE EXCLUSIVE DESK ORGANISER for the first 1000 SUBSCRIBERS.

   >> सम्पादकीय
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> आपकी शिकायत
   >> पर्यटन गाइडेंस सेल
   >> स्टुडेन्ट गाइडेंस सेल
   >> राजधानी
   >> कवर स्टोरी
   >> विश्व डाइजेस्ट
   >> बेटी बचाओ
   >> आपके पत्र
   >> अन्ना का पन्ना
   >> इन्वेस्टीगेशन
   >> मप्र.डाइजेस्ट
   >> निगम मण्डल मिरर
   >> मध्यप्रदेश पर्यटन
   >> भारत डाइजेस्ट
   >> सूचना का अधिकार
   >> सिटी गाइड
   >> लॉं एण्ड ऑर्डर
   >> सिटी स्केन
   >> जिलो से
   >> हमारे मेहमान
   >> साक्षात्कार
   >> केम्पस मिरर
   >> फिल्म व टीवी
   >> खाना - पीना
   >> शापिंग गाइड
   >> वास्तुकला
   >> बुक-क्लब
   >> महिला मिरर
   >> भविष्यवाणी
   >> क्लब संस्थायें
   >> स्वास्थ्य दर्पण
   >> संस्कृति कला
   >> सैनिक समाचार
   >> आर्ट-पावर
   >> मीडिया
   >> समीक्षा
   >> कैलेन्डर
   >> आपके सवाल
   >> आपकी राय
   >> पब्लिक नोटिस
   >> न्यूज मेकर
   >> टेक्नोलॉजी
   >> टेंडर्स निविदा
   >> बच्चों की दुनिया
   >> स्कूल मिरर
   >> सामाजिक चेतना
   >> नियोक्ता के लिए
   >> पर्यावरण
   >> कृषक दर्पण
   >> यात्रा
   >> विधानसभा
   >> लीगल डाइजेस्ट
   >> कोलार
   >> भेल
   >> बैरागढ़
   >> आपकी शिकायत
   >> जनसंपर्क
   >> ऑटोमोबाइल मिरर
   >> प्रॉपर्टी मिरर
   >> सेलेब्रिटी सर्कल
   >> अचीवर्स
   >> पाठक संपर्क पहल
   >> जीवन दर्शन
   >> कन्जूमर फोरम
   >> पब्लिक ओपिनियन
   >> ग्रामीण भारत
   >> पंचांग
   >> रेल डाइजेस्ट
 

D-83286/28-3-18


भोपाल में हो रही है हैप्पीनेस इंडेक्स इंटरनेशनल वर्कशॉप
21 February 2018
देश में सबसे पहले आनंद विभाग गठित करने वाली मध्यप्रदेश सरकार ने आनंद विभाग की गतिविधियों का निरंतर विस्तार करते हुए एक अभिनव पहल की है। भोपाल में 22 और 23 फरवरी को हैप्पीनेस इंडेक्स के संबंध में एक अंतर्राष्ट्रीय कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आयआयटी) खड़गपुर के सहयोग से हो रही इस कार्यशाला में भारत के अलावा संयुक्त राज्य अमेरिका, दुबई, कनाडा एवं अन्य देशों के विशेषज्ञ भी भागीदारी कर रहे हैं। राज्य आनंद संस्थान ने आयआयटी खड़गपुर के साथ आनंद के पैमानों की पहचान, लोगों को आनंदित करने की विधियों और उपकरणों के विकास के लिए अनुबंध किया है। कार्यशाला गुरूवार, 22 फरवरी को पूर्वान्ह 10 बजे होटल जहांनुमा पैलेस में प्रारंभ होगी एवं कार्यशाला के प्रतिभागी मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान से भी भेंट करेंगे। हैप्पीनेस इंडेक्स कार्यशाला में पहले दिन दो सत्र और दूसरे दिन समापन के पूर्व दो सत्र होंगे। कार्यशाला में मुख्य रूप से अपर मुख्य सचिव आनंद विभाग श्री इकबाल सिंह बैंस, राज्य आनंद संस्थान के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री मनोहर दुबे, प्रोफेसर राज रघुनाथन (यूएसए), डॉ. डेविड जोंस (दुबई), राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री आर.परशुराम, आयआयटी खड़गपुर से प्रो. एम.के. मंडल के अलावा प्रो. पी.पटनायक, प्रो. पी. मिश्रा, प्रो. जे.मुखर्जी, सुश्री जुनमोनी, श्री गिरजा एवं अन्य प्रतिभागी हिस्सा लेंगे। अन्य सत्र में प्रो. प्रतीप नायक, डॉ. सम्दु चेत्री, सुश्री राधिका पुंशी, प्रो. पूर्णिमा सिंह, प्रो. आर.सी.त्रिपाठी, प्रो. रेखा सिंघल, प्रो.एस.एस.रेखी, प्रो. लीलावती क़ृष्णन, प्रो. जनक पाण्डेय, प्रो. कमलेश सिंह, प्रो. विजय कुमार श्रोत्री, श्री राजुल अस्थाना, श्री अखिलेश अर्गल, प्रो. गणेश बागड़िया, प्रो. आर.एस. पिल्लई, प्रो. पी.मिश्रा, श्री विश्वपति त्रिवेदी, प्रो. राजशेखरन पिल्लई भागीदारी करेंगे। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश में हैप्पीनेस के स्तर के निर्धारण के लिए विभिन्‍न उपायों पर कार्य प्रारंभ किया गया है। भूटान एवं अन्य देशों में भौतिक सुविधाओं में वृद्धि के कारण प्रसन्नता के स्तर को बढ़ाने पर कार्य हुआ है, वहीं मध्यप्रदेश में एक मौलिक पद्धति का अनुसरण करते हुए बाह्य और आंतरिक प्रसन्नता में वृद्धि के साधनों पर विचार करते हुए गतिविधियों को संचालित किया गया है। भोपाल में हो रही कार्यशाला इस दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है कि जहां अन्य देशों में अपनाए गए खुशी के पैमानों का उपयोग करते हुए अपने पृथक पैमाने निर्धारित कर आम लोगों के जीवन में खुशी के स्तर को बढ़ाने की तैयारी की गई है। इस क्षेत्र में अन्य देशों में किए गए कार्यों के अनुभवों का लाभ लेते हुए मध्यप्रदेश में पूर्व में भी आनंद संस्थान ने विभिन्न कार्यक्रमों को क्रियान्वित किया है। इनमें आनंदक के रूप में नागरिकों की सेवाएं लिए जाने, अल्प विराम कार्यक्रम, आनंदम गतिविधि - जिसमें लोगों द्वारा कम से कम सुविधा लेते हुए अन्य सामान दूसरे लोगों के लिए त्यागने, सात हजार से अधिक स्थानों पर आनंद उत्सव, आनंद कैलेण्डर छापने, आनंद शिविर लगाने, आनंद क्लब बनाने, आनंद सभा शुरू करने, ईशा फाउंडेशन और अन्य संस्थानों में प्रशिक्षण के लिए शासन के व्यय पर अधिकारियों/कर्मचारियों को भेजने की गतिविधि भी शामिल है। दो दिवसीय कार्यशाला इस दिशा में एक अनूठी पहल है जो मध्यप्रदेश में नागरिकों में आनंद के अनुभव में वृद्धि के लिए नए ठोस प्रयासों को मूर्त रूप देने का आधार बनेगी।
सागर में दिव्यांगजनों के लिये विशेष विद्यालय एवं संयुक्त छात्रावास खुलेगा
21 February 2018
सागर जिले में दिव्यांगजनों के लिये विशेष विद्यालय एवं संयुक्त छात्रावास का निर्माण किया जाएगा। इस 100 सीटर विशेष विद्यालय एवं छात्रावास के निर्माण के लिये 6 करोड़ 67 लाख 58 हजार रुपये की स्वीकृति दी गई है। राज्य निराश्रित निधि की राशि से पीआईयू भोपाल को भवन निर्माण की मंजूरी भी दी गई है। मध्यप्रदेश निराश्रित एवं निर्धन व्यक्ति की सहायता अधिनियम के तहत बने नियम के अन्तर्गत एवं परियोजना संचालक लोक निर्माण विभाग से प्राप्त प्राक्कलन पर यह सशर्त स्वीकृति दी गई है। इसमें विशेष विद्यालय एवं संयुक्त छात्रावास भवन का निर्माण अनुमोदित नक्शा तकनीकी प्राक्कलन अनुसार पीआईयू भोपाल द्वारा करवाया जाएगा। निर्माण कार्य गुणवत्तापूर्ण नहीं पाये जाने पर आगामी देय किश्तों का भुगतान नहीं किया जाएगा। भवन निर्माण की प्रगति की समीक्षा कलेक्टर की अध्यक्षता में गठित समिति करेगी। भवन का अधिपत्य सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग के पास ही रहेगा।
पश्चिम बंगाल से आए दल ने देखा राज्य आनंद संस्थान
21 February 2018
पश्चिम बंगाल से खड़गपुर से आए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान के प्रतिनिधियों ने आज राज्य आनंद संस्थान का अवलोकन किया। प्रतिनिधियों ने संस्थान के क्रियाकलापों की जानकारी प्राप्त की। खड़गपुर के दल को बताया गया कि गत वर्ष जनवरी माह से राज्य में आनंद विभाग की गतिविधियां शुरू हुई हैं। सिर्फ एक वर्ष में राज्य आनंद संस्थान के माध्यम से अनेक गतिविधियों को अंजाम दिया गया है। इस मौके पर दल को जानकारी दी गई राज्य आनंद संस्थान ने आनंद शिविरों में भाग लेने के लिये ऑनलाइन पंजीयन प्रक्रिया शुरू की है। इसके अंतर्गत इनिशिएटिव ऑफ चेंज पंचगनी पुणे, आर्ट ऑफ लिविंग बैंगलुरू एवं ईशा फाउण्डेशन कोयम्बटूर के माध्यम से शासकीय सेवकों के लिये वर्ष 2018 में आयोजित होने वाले आनंद शिविर का ऑनलाइन पंजीयन किया जाएगा। ऐसी व्यवस्था की गई है कि शिविरों में भागीदारी के लिये शासकीय सेवक (आनंदक) अपना पंजीयन स्वयं ही संस्थान की वेबसाइट पर कर सकेंगे। इसके साथ ही जिलों में जनता को घेरलू आवश्यकता की ऐसी चीजे जो उनके काम की नहीं है उन्हें दान करने की प्रेरणा भी दी गई है। इसके भी अच्छे परिणाम प्राप्त हुए हैं। खुशी के स्तर को जांचने के लिए विभिन्न पैमाने निर्धारित किए गए है। इस संबंध में अंतर्राष्ट्रीय कार्यशाला के माध्यम से अध्ययन कर इसे योजना में शामिल करने का प्रयास है। खुशी के लिए किस इंडीकेटर का कितना वेटेज हो, यह जानने के लिए प्रश्नावली तैयार कर विचार भी प्राप्त किए जा रहे हैं। मध्यप्रदेश में मौलिक तरीकों से जनता में खुशी के स्तर में वृद्धि के विभिन्न उपाय लागू करने की पहल की गई है। खड़गपुर के दल का राज्य आनंद संस्थान में निदेशक श्री नीरज वशिष्ठ, श्री संदीप दीक्षित, श्री प्रवीण गंगराड़े के अलावा डॉ. अशोक जनवदे, श्री अम्बरीश श्रीवास्तव, श्री लोकेन्द्र ठक्कर ने स्वागत किया।
आनंद शिविरों" में भाग लेने के लिये ऑनलाइन पंजीयन शुरू
21 February 2018
राज्य आनंद संस्थान ने आनंद शिविरों में भाग लेने के लिये ऑनलाइन पंजीयन प्रक्रिया शुरू कर दी है। इनिशिएटिव ऑफ चेंज पंचगनी पुणे, आर्ट ऑफ लिविंग बैंगलुरू एवं ईशा फाउण्डेशन कोयम्बटूर के माध्यम से शासकीय सेवकों के लिये वर्ष 2018 में आयोजित होने वाले आनंद शिविर का ऑनलाइन पंजीयन संस्थान की वेबसाइट www.anandsansthanmp.in पर किया जा सकता है। शिविरों में भागीदारी के लिये शासकीय सेवक (आनंदक) अपना पंजीयन स्वयं ही संस्थान की वेबसाइट पर कर सकेंगे। पंजीयन सीमित समय और सीमित सीट में उपलब्ध हैं। पंजीयन पहले आओ पहले पाओ के आधार पर जारी है। शिविर का पंजीयन शुल्क शासकीय सेवक स्वयं वहन करेंगे। प्रशिक्षण शुल्क और यात्रा व्यय का भुगतान शासकीय सेवक का संबंधित विभाग वहन करेगा। शिविर संचालन अवधि शासकीय सेवक के कर्तव्य में मान्य की जाएगी।
कस्टम हायरिंग सेंटर चलाने वाला प्रदेश का पहला महिला स्व-सहायता समूह
18 February 2018
भोपाल संभाग में रायसेन जिले की गैरतगंज जनपद के आदर्श ग्राम हरदौट में महिला स्व-सहायता समूह की महिलायें कृषि विभाग के सहयोग से कस्टम हायरिंग सेंटर चला रही हैं। यह प्रदेश का पहला ऐसा कस्टम हायरिंग सेंटर है जिसे महिला स्व-सहायता समूह द्वारा चलाया जा रहा है। इस समूह में 12 महिला सदस्य हैं। समूह के पास ट्रेक्टर, थ्रेसर, कल्टीवेटर, सीड ड्रील मशीन, हैरो, रोटावेटर,प्लाऊ तथा सीड ड्रील उपकरण हैं। इन उपकरणों को स्व-सहायता समूह की महिलाएं किराए पर चला रही हैं। यह कस्टम हायरिंग सेंटर जून 2017 में शुरू हुआ। पिछले सीजन में समूह को इस सेंटर से 70 हजार रूपए की आमदानी हुई। महिला स्व.सहायता समूह की रक्षा बाई, भागवती बाई, ममता बाई, ललिता बाई तथा शांति बाई सहित अन्य महिलाओं ने बताया कि आमदानी का एक अतिरिक्त साधन प्राप्त होने से उनकी आर्थिक स्थिति अच्छी हो गई है। इनकी सफलता को देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा जिले के अन्य कस्टम हायरिंग केन्द्रों को भी महिला स्व-सहायता समूह द्वारा संचालित कराने पर विचार किया जा रहा है। महिला स्व-सहायता समूह के बनाये टेडी-बियर हुए लोकप्रिय : दमोह जिले की तहसील बटियागढ़ के ग्राम बकायन की आरती पौराणिक ने गाँव की लगभग 250 महिलाओं को आजीविका मिशन अंतर्गत करीब 19 स्व-सहायता समूहों से जोड़ लिया है। आरती यहाँ पर सीआरपी के पद पर है और समूहों की देखरेख के साथ मदद भी करती है। आजीविका मिशन अंतर्गत टेडी-बियर बनाने का काम ज्यादा हो रहा है। ग्राम बकायन में समूह की महिलाओं को इस काम से बहुत फायदा हो रहा है क्योंकि जिले में इसका निर्माण अभी कहीं और नहीं हो रहा है। बटियागढ़, नरसिंहगढ़, दमोह में इन महिलाओं के बनाये टेडी-बियर ज्यादा बिकते हैं। आरती स्व-सहायता समूह ने 11 हजार रुपये की लागत से टेडी-बियर बनाने का काम शुरू किया था, दिल्ली से निर्माण सामग्री बुलवाकर सरकार से 20 हजार रुपये की मदद भी ली थी। अब टेडी-बियर बनाने का काम अच्छा चल निकला है। विमला मानिकपुरी स्वावलम्बी बनी, 12वीं की परीक्षा भी पास की : अनूपपुर जिले के ग्राम बहपुरी में विमला मानिकपुरी विवाह के बाद लक्ष्मी आजीविका स्व-सहायता समूह से जुड़ी। समूह से ऋण लेकर अपने लिये सिलाई मशीन ली और पति को फर्नीचर बनाने का सामान दिलवाया। धीरे-धीरे दोनों का काम अच्छा चल निकला। आज विमला सिलाई के साथ पीको और फाल का काम भी करने लगी है। पति के साथ सब्जी उत्पादन और कारपेंटर के काम में भी मदद कर रही है। पति-पत्नी मिलकर कम से कम 14 हजार रुपये मासिक कमा रहे हैं। विमला मानिकपुरी ने समूह से 7 बार 73 हजार 500 रुपये ऋण लिया। नियमित ऋण वापसी करते हुए 38 हजार रुपये समूह को वापस कर चुकी है। अब विमला अपने ग्राम संगठन गुरुकृपा में बुक-कीपर के रूप में कार्य कर रही है। समूह से जुड़ने के बाद विमला ने 12वीं कक्षा की परीक्षा भी पास कर ली है। जैविक हल्दी उत्पादन बना समूह की ताकत : जैविक एवं उन्नत खेती अपनाने के कारण छिन्दवाड़ा जिले में सौंसर विकासखण्ड के ग्राम भुम्मा निवासी मटरू लाल डोंगरे को नई पहचान मिल गई है। इनके पास 0.840 हेक्टेयर जमीन है जिस पर मक्का, मूंगफली, तुअर, संतरा एवं हल्दी की खेती प्रमुखता से करते थे। जैविक उत्पाद की कोई पहचान नहीं होने के कारण उत्पाद को सामान्य अनाज की तरह ही बेचते थे। वर्ष 2015-16 में आत्मा परियोजना अंतर्गत इन्हें परम्परागत कृषि विकास योजना अंतर्गत समूह बनाकर जैविक खेती करने की सलाह मिली और समूह के उत्पाद की ब्रॉडिंग एवं पैकिंग भी संभव हो गई। इस समूह का नाम भुम्मा जैविक समूह रखा गया जिसमें गाँव के जैविक खेती में रुचि रखने वाले 50 कृषक शामिल हैं जिन्हें प्रशिक्षण भी दिलवाया गया। समूह के लीडर द्वारा खेती के सम्पूर्ण रिकार्ड का संधारण किया गया जिसकी ऑनलाइन फीडिंग भी पीजीएस इण्डिया की वेबसाइट पर की गई। वर्ष 2016-17 के अंत में समूह के कृषकों को अंडर कनवर्जन का स्कोप सर्टिफिकेट भी जारी किया जा चुका है। आत्मा परियोजना के सहयोग से बाजार की माँग के अनुसार कृषकों ने स्वयं ही प्रोसेसिंग कर पैकिंग का कार्य प्रारंभ कर दिया है। आत्मा परियोजना द्वारा विपणन में भी मदद की जा रही है। समूह द्वारा जैविक हल्दी 300 रुपये प्रति किलो के भाव से बेची जा रही है जिससे लाभ दोगुना तक मिल रहा है। राष्ट्रीय स्तर के एग्रोविजन मेला, नागपुर में इनकी जैविक हल्दी की अच्छी माँग रही। कुछ प्रायवेट कम्पनियों द्वारा भी इस जैविक हल्दी की माँग की जा रही है। अब समूह के सदस्य मूंगफली, तुअर, मूंग, उड़द, धनिया एवं संतरा की ब्रांडिंग कर विपणन प्रारंभ करने की कार्य-योजना भी बना रहे हैं।
नर्मदा किनारे नशामुक्ति जन-जागृति अभियान जारी
17 February 2018
नशा मुक्ति के प्रति जन-चेतना विकसित करने के उद्देश्य से नर्मदा नदी के तटीय 16 जिलों के 1198 ग्रामों में कला पथक के 125 कलाकारों द्वारा विभिन्न क्षेत्रीय लोक शैलियों में सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। आयुक्त सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण श्री अशोक शाह ने बताया कि प्रदेश स्तर पर 6 कलाकारों का दल गठित कर कुल 15 शासकीय कलापथक दलों द्वारा ग्रामों में प्रचार-प्रसार का कार्य शुरू किया गया है। इसमें कलाकार नर्मदा तटीय क्षेत्र में जाकर लोगों को नशे के दुष्परिणामों के प्रति जागरूक कर रहे हैं। साथ ही, नशे से होने वाली बीमारी के बारे में भी गीतों-नाटकों के माध्यम से जानकारी दे रहे हैं। इस दौरान नशा न करने के लिये लोगों से संकल्प पत्र भी भरवाये जा रहे हैं।
सामाजिक कल्याण के क्षेत्र में प्रदेश सरकार को मिली राष्ट्रीय सराहना
7 February 2018
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की पहल पर सामाजिक रूप से पिछड़े और शारीरिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों को विकास की मुख्य-धारा से जोड़ने के प्रदेश सरकार के प्रयासों को राष्ट्रीय-स्तर पर भी सराहा गया है। प्रदेश को अनेक राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा भी गया है। सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग के माध्यम से 55 लाख जरूरतमंदों को 513 करोड़ की सहायता राशि विभिन्न योजनाओं में दी गई है। आयुक्त सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण श्री अशोक शाह ने बताया कि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत वर्ष 2006 से अभी तक करीब 4 लाख 27 हजार गरीब जरूरतमंद परिवारों की बेटियों के विवाह के लिये 7 करोड़ 23 लाख रुपये से ज्यादा की राशि सहायता स्वरूप दी जा चुकी है। राज्य सरकार द्वारा सामाजिक समरसता का संदेश देते हुए वर्ष 2012 से मुख्यमंत्री विवाह योजना के तहत करीब 10 हजार 678 मुस्लिम कन्याओं के निकाह के लिये 19 लाख 54 हजार की सहायता राशि दी गई है। इसी क्रम में सरकार द्वारा शारीरिक रूप से नि:शक्त व्यक्तियों के जीवन में खुशहाली लाने के लिये नि:शक्त विवाह प्रोत्साहन योजना प्रारंभ की गई है। योजना में करीब 10 हजार नि:शक्तजन को दो लाख रुपये के मान से लगभग 197 लाख की प्रोत्साहन राशि प्रदान की गई है। मुख्यमंत्री मजदूर सुरक्षा योजना में लगभग 4 लाख 46 हजार खेतिहर मजदूरों को 192 करोड़ रुपये से ज्यादा की सहायता राशि दी गई है। यह सहायता बच्चों की छात्रवृत्ति, विवाह सहायता आदि के रूप में दी गई है। सामाजिक न्याय विभाग के माध्यम से 36 लाख हितग्राहियों को 116 करोड़ रुपये की पेंशन राशि ई-पेमेंट के माध्यम से उनके बैंक खातों में प्रतिमाह पहली तारीख को जमा करवाई जा रही है। पेंशन स्वीकृति प्रक्रिया को भी सरल बनाया गया है। साथ ही नि:शक्तजन एवं विधवा पेंशन की स्वीकृति के अधिकार पंचायत सचिव को प्रदान कर दिये गये हैं। देश में सर्वाधिक यू.डी.आई.डी. कार्ड तैयार राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के प्रत्येक नि:शक्त व्यक्ति का डाटाबेस तैयार करने का विशेष कार्यक्रम तैयार किया गया है। यह प्रक्रिया फरवरी-2017 से प्रारंभ की गई। अभी तक एक लाख 67 हजार कार्ड पोर्टल के माध्यम से बनाये जा चुके हैं। इससे मध्यप्रदेश देश में सर्वाधिक यूनिक डिसएबिलिटी आई.डी. कार्ड जनरेट करने वाला राज्य बन गया है। राष्ट्रीय-स्तर पर सराहना राज्य सरकार के नि:शक्तजन कल्याण विभाग को उसकी कार्य-प्रणाली के लिये 'सर्वोत्तम नियोक्ता तथा प्लेसमेंट एजेंसी'' का वर्ष 2011-12 एवं वर्ष 2014-15 का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला है। वरिष्ठ नागरिकों की सेवाओं के लिये राष्ट्रीय 'वयोश्रेष्ठ सम्मान'' वर्ष 2013-14 में प्राप्त हुआ है। इसी प्रकार नेशनल ई-गवर्नेंस राष्ट्रीय पुरस्कार, वर्ष 2012-13 में स्पर्श पोर्टल, वर्ष 2015-16 में समग्र पोर्टल एवं वर्ष 2016-17 में स्टेट पेंशन पोर्टल के राष्ट्रीय पुरस्कार भी भारत सरकार द्वारा विभाग को दिये गये है
राजस्व मंत्री श्री गुप्ता ने किया समाजसेवियों का सम्मान
19 January 2018
राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने काटजू हास्पिटल के पास आयोजित कार्यक्रम में शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता सहित अन्य सामाजिक क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाले व्यक्तियों को शाल-श्रीफल और पौधा देकर सम्मानित किया। उन्होंने कहा की समाज सेवा का कार्य बहुत कठिन है। इनको सम्मानित कर हम गौरवान्वित महसूस कर रहे है। श्री गुप्ता ने कहा की किसी पीड़ित की मदद करना सबसे बड़ा पुण्य है। इनसे हम सब प्रेरणा लेते रहेंगे। श्री गुप्ता ने श्रीमती सुधा दुबे, श्री सुनील दुबे, श्री सुधीर जैन, श्री शंकरलाल महेश्वरी, श्री भूपनारायण, श्री केएस गंगवार, श्री दुलीचन्द अठवाल, श्रीमती ललेश्वरी लिल्लारे, श्रीमती रामबाई पाटिल, श्रीमती उसमा वेग सहित अन्य समाजसेवियों को सम्मानित किया। इस दौरान स्थानीय जनप्रतिनिधि उपस्थित थे
प्रदेश में मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान की राशि कई गुना बढ़ाई गई
18 January 2018
किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन ने कहा है की राज्य सरकार प्रत्येक जरूरतमंद को बीमारी के समय आर्थिक मदद पहुँचाना चाहती है। राज्य में मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान की राशि में काफी इजाफा किया गया है। प्रदेश में डॉक्टरर्स की कमी को दूर करने के लिए 5 नये मेडिकल कॉलेज खोले गए हैं। प्रत्येक मेडिकल कॉलेज में 150-150 सीट रखी गई है। इसके साथ ही पूर्व से संचालित 7 मेडिकल कॉलेज में सीटें बढ़ायी गई है। इसके साथ ही सरकारी अस्पतालों में मरीजों की सुविधा के लिये बिस्तरों की संख्या भी बढ़ाई गई है। बालाघाट जिला अस्पताल में बिस्तरों की संख्या बढ़ाकर 500 कर दी गई है। किसान कल्याण मंत्री श्री बिसेन आज बालाघाट में मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सेवा शिविर के शुभारंभ समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। किसान कल्याण मंत्री श्री बिसेन ने कहा है की राज्य सरकार जनसामान्य को अच्छी स्वास्थ्य सेवा देना चाहती है। उन्होंने कहा की बीमार लोगों के इलाज के लिए धन की कमी को बाधा नहीं बनने दिया जायेगा। श्री बिसेन ने इस मौके पर ट्रामा सेंटर में मरीजों की जाँच एवं उपचार के लिये बनाये गए काउंटर का निरीक्षण किया। किसान कल्याण मंत्री जिला अस्पताल की बर्न यूनिट में भर्ती श्रीमती माया मरकाम को भी देखने गए। उन्होंने डॉक्टरों से श्रीमती माया के स्वास्थ्य की जानकारी ली। लाल बर्रा तहसील के ग्राम सेलवा की श्रीमती माया पिछले दिनों खाना बनाते समय जल गई थी। डॉक्टर ने बताया की वे 36 प्रतिशत जल गई है। लेकिन श्रीमती माया खतरे से बाहर है।
समाज उपयोगी और उत्कृष्ट शोध परियोजना प्रस्ताव तैयार करने पर जोर
16 January 2018
शोध परियोजना प्रस्ताव तैयार करने के पहले दो मुद्दे सबसे अधिक महत्वपूर्ण हैं। पहला, शोध के लिए संबंधित विषय क्यों चुना और दूसरा उससे समाज को क्या लाभ मिलेगा। शोध परियोजना प्रस्ताव का विषय नया होना चाहिये। परियोजना प्रस्ताव में शीर्षक और बजट का अत्यधिक महत्व है। वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद् सीएसआईआर की नई दिल्ली स्थित राष्ट्रीय भौतिक प्रयोगशाला के वैज्ञानिक 'जी' डॉ. एस.के. धवन ने शोध परियोजना प्रस्ताव लेखन के विभिन्न घटकों पर व्याख्यान में यह बात कही। म.प्र विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद् के विश्वविद्यालय समन्वयक प्रकोष्ठ द्वारा उच्च गुणवत्ता शोध परियोजना तैयार करने की प्रविधि और नेटवर्किंग कार्यशाला में प्रदेश के 12 विश्वविद्यालय के 22 विषय के लगभग 125 प्रतिभागी ने भाग लिया। डॉ. एस.के. धवन ने बताया कि प्रस्ताव लेखन की एक निर्धारित प्रविधि है। शोध परियोजना प्रस्ताव तैयार करते समय सारांश, समय-सीमा और लिटरेचर रिव्यू का विशेष महत्व है। परिषद के महानिदेशक डॉ. नवीन चन्द्रा ने कहा कि शोध लाभ समाज को मिलना चाहिये। उन्होंने कहा कि केवल पेपर प्रकाशित होने से रिसर्च प्रोजेक्ट बनाने का उद्देश्य पूरा नहीं हो जाता। विज्ञान लोकप्रियकरण के समूह प्रमुख और मुख्य वैज्ञानिक डॉ.आर.के.आर्य ने म.प्र विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद् के ऑनलाइन पोर्टल का प्रदर्शन कर उसकी जानकारी दी। जीएस एवं जीआई ग्रुप के प्रमुख एवं मुख्य वैज्ञानिक डॉ. तस्नीम हबीब ने परिषद द्वारा विभिन्न परियोजनाओं के लिए दी जाने वाली वित्तीय सहायता और विभिन्न कार्यक्रम की जानकारी दी। विश्वविद्यालय समन्वयक प्रकोष्ठ के प्रभारी डॉ. डी.के. सोनी ने कार्यशाला के उद्देश्यों को बताया।
तंबाकू मुक्त होगा फरीदाबाद जिला, बनेगा माडॅल
10 January 2018
फरीदाबाद, 10 जनवरी। पुलिस कमीश्नर डा.हनीफ कुरेशी ने कहा है कि फरीदाबाद जिले को तंबाकू मुक्त बनाकर इसे देशभर में एक माडॅल के रुप में प्रस्तुत करेंगे। इसके लिए स्वयंसेवी संस्थाअेंा का सहयेाग लिया जायेगा। पुलिस कमीश्नर बुधवार को कमीश्नरेट सभागार में हरियाणा पुलिस, संबंध हैल्थ फाउंडेशन (एसएचएफ), गुडगांव व फोर्टिस फाउंडेशन द्वारा आयोजित तंबाकू मुक्त फरीदाबाद पर आयेाजित प्रेस कांफे्रस को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान पुलिस कमीश्नर व अन्य अधिकारियों का सम्मान भी किया गया। उन्होने कहा कि पुलिस के पास बहुत सारे काम होतें है और मुख्य काम अपराध को रोकना है, क्यों कि क्राइम को सिर्फ पुलिस ही रोक सकती है, इसलिए सामाजिक सरोकार के जो काम है उन्हे सामाजिक संस्थाअेां के द्वारा किया जाना बेहतर है। तंबाकू व अन्य धूम्रपान उत्पाादों की रोकथाम के लिए केाटपा का प्रभावी रुप से पालन होना जरुरी है। मुख्य से इसको देा तरह से पूरी तरह लागू किया जा सकता है, इसमें पहला काम अवेयरनेस और कोटपा की कड़ाई से पालना कराना शामिल है। कोटपा को लागू करने के लिए नियमित रुप से अभियान चलाया जायेगा।
3 हजार चालान बनेंगे प्रतिमाह पुलिस कमीश्नर ने कहा कि जिले को तंबाकू मुक्त बनाने के लिए सभी पुलिस अधिकारियों के साथ वार्तालाप कर तय किया गया कि कम से कम 3 हजार चालान प्रतिमाह बनाये जाएंगे। इससे आम जनता में सकारात्मक संदेश जाएगा। इसके साथ ही तंबाकू बेचने वाले, इसे बनाने वाली कंपनियां, आमजनता, सामाजिक संस्थाअेंा का सहयेाग लिया जाएगा, इनके साथ वार्ता की जायेगी। डॉ. कुरैशी ने कहा कि आम लोगों को स्वस्थ वातावरण मिले इसके लिए सार्वजनिक स्थलों पर धूम्रपान पीने वालों के विरुद्ध और अधिक सख्ती से कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि स्पेशल ड्राइव का उद्देश्य युवा पीढ़ी को तंबाकू अन्य धूम्रपान उत्पादों से दूर रखकर कैंसर जैसी अन्य बीमारियों से बचाव है। इसके साथ ही यह सुनिश्चिित किया जाएगा कि सार्वजनिक स्थलों पर धूम्रपान करने वालों की वजह से धूम्रपान न करने वालों विशेषक बच्चों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव न पड़े।
विशेष अभियान में बने 2338 चालान पुलिस ने दिंसबर 2017 माह में विशेष अभियान चलाकर सार्वजनिक स्थलों पर धूम्रपान करने व कोटपा एक्ट के नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में 2338 चालान काटे है। जबकि वर्ष 2017 में कुल 3168 चालान काटे गए हैं। इस मुहिम के सकारात्मक परिणाम आने के कारण पुलिस इस अभियान को जारी रख रही है, इसेमं आम जनता का भी सकारात्मक सहयेग मिल रहा है। इस दौरा मौके पर हजारों की संख्या में कोटपा एक्ट के तहत बेहतरीन कार्य करने पर सामाजिक संगठनों व आमजन ने पुलिस की प्रशंसा की है। पिछले एक साल से इस अभियान को चलाया जा रहा है। पुलिस कमीश्नर सहित अधिकारियों का हुआ सम्मान पुलिस के द्वारा इस प्रशंसनीय कार्य को प्रोत्साहित करने के लिए देशभर में तंबाकू मुक्त अभियान चला रही संबंध हैल्थ फाउंडेशन, फोर्टिस फाउंडेशन गुडगांव की और से ट्रस्टी संजय सेठ, प्रोगा्रम डायरेक्टर अंजली खोसा ने पुलिस कमिश्नर डॉ. हनीफ कुरैशी को केाटपा में बेहतरीन कार्य करने पर सम्मान पत्र प्रदान किया। वंही सर्वाधिक चालान काटने वाले पुलिसथाना बल्लबगढ़ सिटी, सारन व सराय ख्वाजा पुलिस थाना प्रबंधकों को सम्मानित किया।
19.7 प्रतिशत लोग करतें है धूम्रपान तम्बाकू मुक्त हरियाणा अभियान चला रही संबंध हैल्थ फाउंडेशन के सीनीयर मैनेजर डॉ. सोमिल रस्तोगी ने कहा कि हरियाणा प्रदेश में 19.7 फीसदी लोग बीड़ी व सिगरेट का सेवन करते हैं। धूम्रपान की वजह से 80.3फीसदी नोन-स्मोकर पर भी प्रतिकूल असर पड़ता है। उन्होंने कहा कि इस हरिणाया प्रदेश में धूम्रपान से जनित रोगों के हर साल करीब 28 हजार लोगों की मौत हो जाती है। गंभीर चिंतन का विषय ये है कि इनमें से 10 फीसदी लोग वे हैं जो ध्रुमपान नहीं करते हैं, लेकिन बीड़ी-सिगरेट पीने वाले के संपर्क में रहने के कारण रोगग्रस्त होकर मौत का शिकार हो जाते हैं। फरीदाबाद के सेक्टर-31 स्थित एफएमएस स्कूल के चेयरमैन एचएस मलिक ने कहा कि तम्बाकू विक्रेता बच्चों को नशेड़ी बनाकर उनके जीवन को नष्ट करने के लिए स्कूलों के आसपास की दुकानों, थड़ी-ठेलों पर बड़ी मात्रा में तम्बाकू उत्पाद उपलब्ध करवा रहे हैं। उन्होंने कहा कि केवल पुलिस ही है जो इस बच्चों के जीवन को बचा सकती है, इसके लिए इस तरह की स्पेशल ड्राइव निरंतर जारी रखने की जरूरत है। फरीदाबाद मिडटाउन के रोटरी क्लब के अध्यक्ष अनिल बहल ने कहा कि इस तरह के स्पेशल ड्राइव चलाकर ही युवा पीढ़ी को मौत के गर्त में जाने से बचाया जा सकता है। इसके लिए रोटरी क्लब स्वस्थ्य और सुंदर फरीदाबाद बनाने के लिए इस अभियान का सहयोग करेगा। इसके तहत रोटरी क्लब के सदस्य फरीदाबाद में कोटपा एक्ट के प्रति जागरूकता पैदा करेंगे, जिसके लिए शहर में नो-स्मोकिंग के पम्फलेट्स वितरित करेंगे। हरियाणा में 43 लाख स्मोकर, 28 हजार की सालान मौत विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की रिपोर्ट के मुताबिक हरियाणा प्रदेश में करीब 43 लाख लोग किसी न किसी रूप में तम्बाकू का उपयोग करते हैं। इनमें से 35.5 लाख लोग धु्रमपान (बीड़ी व सिगरेट) करते हैं। तम्बाकू जनित पदार्थों के उपयोग से कैंसर सहित विभिन्न तरह की बीमारियों से ग्रसित होने के कारण प्रदेश में सालाना अनुमानित 28 हजार लोगों की मौत हो जाती है। वहीं, लगभग 116 बच्चे रोजाना तम्बाकू जनित पदार्थों का सेवन शुरु करते हैं।
क्या है कोटपा अधिनियम इस अधिनियम के तहत सार्वजनिक स्थान का तात्पर्य ऐसे किसी स्थान से है,जिसका सार्वजनिक उपयेाग होता है वंहा पर धूम्रपान निषेध एंव संवैधानिक चेतावनी। अधिनियम 6 अ समस्त तंबाकू विक्रय स्थलों पर नाबालिगों केा तंबाकू न बेचने की वैधानिक चेतावनी। अधिनियम 6 ब सभी शिक्षण संस्थाअेंा से 100गज की दूरी में तंबाकू उत्पादों की बिक्री निषेध। यह जुर्माना सार्वजनिक स्थल, महाविद्यालय परिसर के अंदर व चारदीवारी के सौ गज के दायरे में किसी भी प्रकार के तंबाकू उत्पादों की बिक्री या सेवन करते पाए जाने पर कोटपा कानून के तहत 200 रुपये तक का जुर्माना किया जा सकता है। फोटेा कैप्सन 1. फरीदाबाद में पुलिस कमीश्नर को सम्मानित करते हुए संबध हैल्थ फाउंडेशन के ट्रस्टी संजय सेठ व फोर्टिस फाउंडेशन की टीम व अन्य। 2. इस अवसर पर उपस्थित संबध हैल्थ फाउंडेशन व फोर्टिस फाउंडेशन की टीम व अन्य। 3. पुलिस कमीश्नर प्रेस कांफे्रस को संबोधित करते हुए। 4,5,6 पुलिस थानाप्रभारियों को सम्मानित करते हुए पुलिस कमीश्नर।

दिव्यांगो को पहली बार मिले लेपटॉप
20 December 2017
विदिशा जिले में जनसुनवाई में ग्राम लश्करपुर के रामू अहिरवार और ग्राम सिरनोटा के दशरथ सिंह अहिरवार ने कलेक्टर को आवेदन देकर लेपटॉप दिलाए जाने का आग्रह किया था। कलेक्टर ने तत्परता से कार्यवाही कर मुख्यमंत्री निःशक्त शिक्षा प्रोत्साहन योजना में दोनों हितग्राहियों को लेपटॉप दिये। श्री रामू अहिरवार कक्षा बारहवीं में अध्ययनरत है। लेपटॉप मिल जाने से रामू ने पढ़ाई के साथ-साथ पार्ट टाइम जॉब करने की ठानी है। इसके लिए रामू ने प्रतिष्ठित संस्थानों में अपना मोबाइल नम्बर दर्ज कराया है ताकि आवश्यकता पड़ने पर वे रामू से सीधा सम्पर्क कर सकें। पांच भाई और एक बहन में सबसे ज्यादा पढ़ाई अब तक केवल रामू ने की है। रामू को पांचवीं कक्षा तक आंखों से दिखाई देता था। उसके बाद अचानक आंखों से दिखना बंद हो गया। शिक्षा के प्रति रामू का रूझान देखते हुए कलेक्टर ने इसे को लेपटॉप दिलाने के लिए विशेष पहल की । ग्राम सिरनोटा के दशरथ अहिरवार को भी यही समस्या थी। दशरथ अभी बी.ए. पाठ्यक्रम के पांचवें सेमेस्टर में अध्ययनरत हैं। संजय गांधी स्मृति महाविद्यालय में इसकी पढ़ाई-लिखाई जारी है। राज्य लोक सेवा आयोग की परीक्षा के माध्यम से प्रशासानिक पद पाने का इच्छुक है दशरथ। प्रशासन की ओर से मिला लेपटाप इस उद्देश्य को पूरा करने में दशरथ के लिय मददगार होगा।
आटिज्म ग्रसित और सेरेब्रल पाल्सी ग्रसित दिव्यांगजन अनुदान योजना में शामिल
25 November 2017
सर्वेक्षण आटिज्म ग्रसित एवं सेरेब्रल पाल्सी ग्रसित दिव्यांगजनों को बहु-विकलांग एवं मानसिक रूप से अविकसित नि:शक्तजनों के लिए सहायता योजना 2009 के अन्तर्गत शामिल किया गया है। सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग द्वारा यह आदेश जारी कर दिया गया है। सहायता योजना 2009 में ऐसे नि:शक्तजनों को 500 रुपये प्रति माह आर्थिक सहायता दी जाती है।
मानसिक रोग में पुलिस की भूमिका पर कार्यक्रम
16 October 2017
गुरुग्राम 14 अक्टूबर। समाज में सभी को मानसिक रुप से पीडि़तों के साथ सम्मानजनक व्यवहार करना चाहिए, तभी वे संकट की स्थिति में दूसरेां की मदद ले सकतें है। वर्तमान में मानसिक रुप से पीडि़त समाज व आमजन से कटा हुआ सा अपने आपको महसूस करता है, इसलिए जब उन्हे पुलिस की जरुरत हेाती है तो वे इनकी मदद ले पाने में असमर्थ हेाते है। यह जानकारी संबध हैल्थ फाउंडेशन (एसएचएफ) की ट्रस्टी रीता सेठ ने पुलिस कमीश्नरेट सभागार में मासिक अपराध समीक्षा के दौरान मानसिक रोग में पुलिस की भूमिका पर आयेाजित कार्यक्रम में दी। उन्होने बताया कि पूरे गुरुग्राम इलाके में करीब 50 हजार से अधिक विभिन्न प्रकार के मानसिक रोगी है, जो कि अज्ञानता और व्यवहार के कारण समाज की मुख्य धारा से कटे हुए है। इसलिए हम सभी को मिलकर इनके साथ परिवार जैसा व्यवहार करना है तभी वे मुख्यधारा में लौट सकते है। खासतौर पर इसमें पुलिस की अह्म भूमिका हेा सकती है। संबध हैल्थ फाउंडेशन (एसएचएफ) के राजीव अग्रवाल ने सभी पुलिस अधिकारियों से आव्हान किया कि उनके पास जब भी कोई मानसिक रुप से पीडि़त का मामला आए तो वे सहानुभूतिपूर्वक उस पर विचार करे। इससे उनका मनोबल बढ़ेगा और उन्हे न्याय भी मिलेगा। मानसिक रुप से पीडि़तों के साथ कई तरह के अन्याय होते है, जिन्हे वे स्वंय रेाकने में असमर्थ होतें है, ऐसी स्थिति में उनके पास पुलिस के अलाव दूसरा कोई विकल्प नही है। रिकवरी सेंटर बना हुआ है वरदान गुरुग्राम गांव की चौपाल में एसएचएफ की और से रिकवरी सेंटर खोला है। जो कि पूरी तरह से ग्रामीणों और मानसिक रुप से पीडि़तों को समर्पित है। इस प्रकार की बीमारियों में मरीज के साथ साथ पूरा परिवार संकट की स्थिति में आ जाता है। देशभर में सभी तरह की मानसिक बीमारियों में 3प्रतिशत आबादी में गंभीर मानसिक बीमारी से ग्रसित है। वंही आत्महत्या का 90 प्रतिशत कारण भी इसे माना गया है। डब्लूएचओ के मुताबिक कुल जनसंख्या में से 10 प्रतिशत लोग मानसिक बीमारी (एमआई) और 3 प्रतिशत गंभीर बीमारी से पीडि़त है। इसमें गुरुग्राम में लगभग 50,000 लोग गंभीर मानसिक बीमारी से ग्रसित है। इनमें 50 प्रतिशत ऐसे है जो पहचान ही नही किये गए। उन्होने कहा कि हरियाणा सरकार के सहयोग से सेक्टर 31 गुरुग्राम के पाली क्लिनिक में भी रिकवरी सेटर चलाया जाता है जो कि गंभीर मानसिक रोगियों के लिए मददगार साबित हो रहा है। इस दौरान मानसिक रुप से पीडि़त युवक जो कि रिकवरी कार्यक्रम से पुनः सामान्य दिनचर्या के साथ आज जीवनयापन कर रहा है, ने अपने जीवन में मानसिक रुप से पीडि़त होने के दौरान जो परेशानियां आई उनके बारे में बताया। पुलिस अधिकारियेां ने जाने हालात और पूछे सवाल इस दौरान पुलिस के अधिकारियेंा ने मानसिक रोग पर तकनीकी जानकारी लेने के बाद रिकवरी कार्यक्रम को समझा और सवाल जवाब भी किये। जिनके जवाब संबध हैल्थ फांउडेशन (एसएचएफ) की दीपशिखा पाल और ट्रस्टी रीता सेठ ने दिए। पुलिस अधिकारियेां ने यह भी पूछा कि वे किस प्रकार से मानसिक रोगियेां की मदद कर सकतें है। इस पर उन्हे बताया गया कि जब किसी मामले में मानसिक रेागी का नाम आए या फिर उनके साथ किसी प्रकार की घटना घटित हेा तो वे उनकी सकारात्मक रुप से जांच कर मदद करें और उनके साथ सम्मानजनक व्यवहार करें। इस कार्यक्रम में गुरुग्राम के समस्त पुलिसथानाधिकारी, अनुसंधानअधिकारी, डीएसपी तथा एसीपी भी उपस्थित थे। फोटेा कैप्सन 1. गुरुग्राम पुलिस कमीश्नरेट सभागार में मानसिक रोग में पुलिस की भूमिका पर आयेाजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए रीता सेठ व टीम। 2. इस अवसर पर गुरुग्राम के समस्त पुलिस अधिकारी व अन्य।
मानसिक स्वास्थ्य दिवस सप्ताह: मानसिक रोग पर बालिकाअेंा ने चित्रों से दिया संदेश
08 October 2017
गुरुग्राम 8 अक्टूबर। संबध हैल्थ फाउंडेशन (एसएचएफ) की और से 4 से 10 अक्टूबर तक अंतरराष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य दिवस सप्ताह मनाया जा रहा है। जिसके तहत पैरामैडिकल स्टॉफ, मानसिक रोग पर आधारित नुक्कड़ नाटक, मानसिक रोग पर विभिन्न स्कूलों के एक हजार से अधिक बच्चों के साथ ड्राइंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस दौरान मानसिक स्वास्थ्य देखभाल अधिनियम, 2017 की भी जानकारी दी गई। संबध हैल्थ फाउंडेशन (एसएचएफ) की ट्रस्टी रीता सेठ ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य दिवस देशभर में मनाया जाता है। लेकिन इस दिन सभी को मानसिक रोगियों का सम्मान करने का संकल्प लेना चाहिए, ताकि इस प्रकार के दिवस की सार्थकता सिद्व हो सके। मानसिक रोगियेां को मान सम्मान मिलना चाहिए ये उनका अधिकार है। वे बताती है कि मानसिक बीमारी के बारे में जब ऐसे परिवारेां से बातचीत करतें है तो पता चलता है कि मानसिक रोग से ग्रसितेां के साथ बातचीत करने से उनके प्रति जो कलंक और शर्म की भावनाऐं जुडी हैं वे कम हो सकती हैं। मानसिक बीमारियों के साथ जीने वाले व्यक्ति यह बताते हैं कि समाज की अस्वीकृति उनके विकास के मार्ग में सबसे बड़ी बाधा है। बहुत से लोग जो मानसिक बीमारी को समझते नहीं हैं वे इस से पीडि़त लोगों से डरे हुये हैं। आम तौर पर इस बारे मैं लोगों की समझ मास मीडिया पर ही आधारित होती है। अक्सर आमजन में यह धारणा बनी रहती है कि मानसिक रोग से पीडि़त व्यक्ति अजीब, खतरनाक , हिंसक और मंद बुद्धि वाले होते हैं। यह गलत और अनुचित वर्णन एक ऐसी सोच को बढ़ावा देते हैं जो समाज में मानसिक बिमारियों से ग्रस्त व्यक्तियों और उनके परिवारों की अस्वीकृति और अपेक्षा का कारण है। उन्होने बताया कि डब्लूएचओ के मुताबिक कुल जनसंख्या में से 10 प्रतिशत लोग मानसिक बीमारी (एमआई) और 3 प्रतिशत गंभीर बीमारी से पीडि़त है। इसमें गुरुग्राम में लगभग 50,000 लोग गंभीर मानसिक बीमारी से ग्रसित है। इनमें 50 प्रतिशत ऐसे है जो पहचान ही नही किये गए। भारत में करीब 35 मिलियन लोग इस तरह की बीमारियों के शिकार हैं। उन्होने बताया कि इस सप्ताह के दौरान, संबध हैल्थ फाउंडेशन की और बसई गांव में मानसिक रोग के संबधित कार्यशालाएं, मानसिक रोग पर आधारित नुक्कड़ नाटक, खेल, अन्य गतिविधियां, और वार्ता का आयोजन किया गया। सिविल अस्पताल में नुक्कड़ नाटक, अमर कालोनी में हैल्थ केयर मेडिकल स्टॉफ के साथ मानसिक रोग के लक्षण व पहचान पर संवेदीकरण कार्यशाला का आयेाजन किया गया। प्रोजेक्ट हैड दीपशिखा पाल की टीम ने पैरा मेडिकल स्टॉफ केा मानसिक रोग पर आधारित एक खेल से भी रुबरु कराया गया। जिसमें मानसिक रोग की पहचान के बारे में बताया गया। संबध हैल्थ फाउंडेशन (एसएचएफ) के ट्रस्टी राजीव अग्रवाल ने बताया कि राजकीय कन्या विद्यालय, अतुल सीनियर सैंकंडरी स्कूल, जांगिड़ बा्रहमण सीनीयर सैंकंडरी स्कूल की बालिकाओं के साथ मानसिक रोग आपसी संवाद किया गया। जिसमें बालिकाअेां ने मानसिक रोग पर आधारित सवाल पूछे जिनका टीम की और से जवाब दिया गया। यंहा पर बालिकाअेंा के साथ चित्र प्रतियोगिता का आयेाजन किया गया। बालिकाअेां ने मानसिक रोग पर कल्पना के चित्र उकेरे। जिसमें मानसिक रेाग से ग्रसित लोगों के जीवन, समाज में उनकी स्थिति इत्यादि का चिंत्राकन किया गया। संबधी की और से मानसिक रोगियों के लिए हरियाणा सरकार के साथ मिलकर रिकवरी कार्यक्रम भी चलाया जा रहा है। वंही गुरुग्रा्रम गांव में रिकवरी सेंटर व गु्रप हेाम भी चलाया जा रहा है। इन कार्यक्रमेंा में टीम के प्रोजेक्ट मैनेजर समृति गहरोत्रा, प्रोग्राम अधिकारी इपस्तिा पाल, प्रिया इत्यादि ने इन कार्यक्रमेंा में शामिल होकर मानसिक रोग पर तकनीकी जानकारी दी। फोटेा कैप्सन 1.2. गुरुग्राम में मानसिक रोग पर बालिकाअेां के द्वारा बनाये गए चित्रों से संदेश देती हुई बालिकाएं। 3. पैरामेडिकल स्टॉफ को मानसिक रोग पर जानकारी देते हुए प्रोजेक्ट हैड दीपशिखा पाल व टीम के सदस्य मानसिक रोग पर खेल से जानकारी देते हुए। 4.मैंटर हैल्थ वीक पर रोग की पहचान व लक्षण के बारे में जानकारी देते हुए इपसिता पाल।
शिक्षा से ही बौद्धिक विकास सम्भव : लक्ष्य
26 Aug 2017
दिनांक 25 अगस्त 2017 को भारतीय समन्वय संगठन (लक्ष्य) की लखनऊ टीम द्वारा घर - घर बहुजन जनजागरण अभियान के तहत लक्ष्य कमांडर चेतना राव के नेतृत्व में लखनऊ के सेक्टर - ओ, एल०डी०ए० कालोनी, कानपुर रोड, लखनऊ, उत्तर प्रदेश में एक कैडर कैम्प का आयोजन किया गया। जिसमें शिक्षा, स्वास्थ्य ,साफ सफाई, भाई चारे तथा अंधविश्वास से कैसे दूर रहा जाये पर चर्चा की ! लक्ष्य कमांडर, चेतना राव ने बहुजन समाज के लोगों को लक्ष्य के उद्देश्यों तथा कार्यों के बारे में बताते हुए लक्ष्य से जुड़ने का अनुरोध किया तथा लोगों से अपील की कि शिक्षित और संगठित होकर ही अपने अधिकारों को हासिल कर सकते हैं। लक्ष्य कमांडर प्रीति गौतम ने कैडर में उपस्थित लोगों को बहुजन समाज के महापुरुषों के बारे में विस्तार से बताया तथा कहा कि बाबा साहब ने कहा है कि बहुजनों आपके पैरों में जूते भले न हों लेकिन हाथों में किताब अवश्य होनी चाहिए क्योंकि शिक्षा से ही बौद्धिक विकास सम्भव हो सकेगा। माया मित्तल जी ने भी बाबा साहब के विचारों को घर - घर तक पहुंचाने पर जोर दिया। लक्ष्य कमांडर ज्योति, राजकुमार, सुरेश चंद्र मित्तल, संजय, अंकुर व अन्य लोग कैडर कैम्प में शामिल हुए और अपने अपने विचार रखे तथा भारतीय समन्वय संगठन (लक्ष्य) द्वारा किए जा रहे सामाजिक जागरूकता अभियान की सराहना की।
अपनी खुसिया गरीबो में बाटना ही सामाजिक चेतना की बड़ी मिसाल : लक्ष्य
8 Aug 2017
लक्ष्य की महिला कमांडर राजकुमारी कौशल ने अपने निवास स्थान जानकीपुरम लखनऊ में अपने पुत्र के जन्मदिन के उपलक्ष में झुगीवासियो का एक कैडर कैम्प आयोजित किया जिसमे आसपास की झुगीवासियो ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया ! लक्ष्य कमाण्डर राजकुमारी कौशल कहा कि मुझे बहुत अच्छा लग रहा है कि मैंने अपने पुत्र सुमित कौशल का जन्मदिन इन लोगो के साथ मनाया तथा उनके साथ सामाजिक चर्चा की ! उन्होंने कहा कि मैं समाज को एक सन्देश देना चाहती हूँ कि हम लोगो ऐसे सामाजिक अवसरों पर इन लोगो के साथ एक सामाजिक चर्चा करे जिससे बहुजन समाज में एक चेतना आएगी व् संसाधनों का भी सदुपयोग होगा ! उन्होंने लोगो से अपील करते हुए कहा कि वो अन्धविश्वास से बचे तथा अपने बच्चो को शिक्षित अवश्य करे ! उन्होंने कहा कि उन्हें नशे से भी बचना चाहिए, ये नशा ही आप लोगो के विनाश का मुख्य कारण है ! शिखा कौशल ने कहा कि आज जो भी अधिकार बहुजन समाज व् महिलाओं को मिले है वो केवल बाबा साहेब डॉ भीम राव आंबेडकर के योगदान का ही परिणाम है अतं हमें उनकी बताई शिक्षाओं पर ध्यान देना चाहिए ! डॉ बेला कौशल ने महिलाओं से अपील करते हुए कहा कि हमें सामाजिक कुरूतियो से बचना चाहिए तथा साफ सफाई का भी ध्यान रखना चाहिए जिससे स्वास्थ भी अच्छा रहेगा ! उन्होंने छोटे परिवार के लाभ भी बताये ! सुमित कौशल ने कहा कि मुझे अपना जन्मदिन इन लोगो के साथ मानना बहुत अच्छा लग रहा है उन्होंने कहा कि अगर हम अपनी खुसिया इन लोगो के साथ बाटेंगे तो इन लोगो को भी प्रेरणा मिलेगी और ये लोग भी अपने बच्चो को शिक्षित करेंगे और ये भी आगे बढ़ेंगे ! सुमित कौशल ने कहा कि अगर ये बहुजन के लोग आगे बढ़ते है तो देश आगे बढ़ेगा ! सभी लोगो ने विशेषतौर पर बच्चो ने इस जन्मदिन को कैडर के रूप में मनाकर खूब आनंद लिया और लक्ष्य कमांडर राजकुमारी ने एक बहुत अच्छा सन्देश बहुजन समाज के पढ़े लिखे लोगो को दिया कि वो भी अपनी खुसिया को गरीब व् पीछे रहगये लोगो के साथ बाटे ताकि वो लोग भी हमसे कुछ सिख सके और आगे बढे सके ! ये ही एक सामाजिक चेतना की बड़ी मिसाल है
“संघ ने की घोष वादन से बाबा साहेब की मानवंदना”
14 April 2017
14 अप्रैल l बाबा साहब डॉ भीमराव अम्बेडकर जी की जयंती के अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के भोपाल ववभाग की घोष इकाई द्वारा आज प्रातः 10.00 बजे बोडड ऑफिस चौराहे पर स्स्ित बाबा साहेब की प्रततमा का घोषवादन कर मान वंदना की गई l लगभग 100 स्वयंसेवकों के घोषदल ने एकलव्य संकुल से संचलन करते हुए बोडड ऑफिस पहुुँच कर बाबा साहेब की प्रततमा की प्रदक्षिणा कर घोष बजाकर मान वंदना की l इकाई का नेतत्ृव संघ के ववभाग सह संपकड प्रमुख प्रदीप त्रिपाठी कर रहे िे l
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मानता है फक बाबा साहेब ने पूरे समाज को समरसता के सूि में बांधकर ऊुँच-नीच का भेद शमटाने में महत्वपूणड भूशमका तनभाई है l संघ सामास्जक समरसता दृण करने हेतुवषड भर अनके कायडक्रमों का आयोजन करता है l

संयुक्त क्षेत्रीय केंद्र (दिव्यांगजन)-सी. आर. सी. भोपाल
22 March 2017
भोपाल: संयुक्त क्षेत्रीय केंद्र (दिव्यांगजन)- सी.आर.सी.भोपाल की व्याख्याता श्रीमती पूनम सचदेव द्वारा विकसित की गई पुस्तिका “वृद्धजनों एवं दिव्यांगजनों के लिए घर मे बाधारहित वातावरण” का आज दिनांक 20/03/2017 को विमोचन किया गया।
इस पुस्तिका मे घर मे बदलाव,जाँच सूची, सुझाव, इत्यादि पर बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी दी गई है।
इस पुस्तिका का विमोचन करते हुये श्री अभिषेक गोपाल (IES),कार्यपालक अभियंता, केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (CPWD)- भोपाल ने सराहाना एवं प्रशंसा की कि यह सुगम्य भारत अभियान की ओर एक महत्वपूर्ण कदम है ।

डूबने से होने वाली मौतों को रोकने दिशानिर्देश बनाने व जिम्मेदारी तय करने की जरूरत
13 Feb. 2017
भोपाल: भारत सहित दुनिया भर में हर वर्ष हजारों लोग पानी में डूबकर अपनी जान गंवा देते हैं। घर में पानी के टब से लेकर, पानी की टंकी, कुंए, बावड़ी, खदानें, नदी, तालाब और समुद्र इन मौतों का कारण बनते हैं। भारत में न तो इन मौतों को रोकने सुरक्षा इंतजाम हैं और न ही कोई जिम्मेदार विभाग या कानून। देशभर में चलाए जा रहे डिजास्टर रिस्क रिडक्शन कार्यक्रम में भी डूबने से होने वाली मौतों को रोकने का कहीं भी जिक्र नहीं है। बढ़ती हुई मौतों को रोकने कानून व दिशानिर्देश बनाने व जिम्मेदारी तय करने की आवश्यकता है।
उक्त बात आज दिन भर चली मंदार एण्ड नो मोर मिशन के तहत आयोजित डूबने से बचाव विषय पर आयोजित नेशनल कान्फ्रेंस में निकलकर सामने आई। इस कान्फ्रेंस का आयोजन रोटरी क्लब, भोपाल मैनेजमेंट एसोसिएशन, बीएसएनएल तथा मंदार एण्ड नो मोर मिशन द्वारा संयुक्त रूप से किया गया जिसमें डूबने से होने वाली मौतों की रोकथाम के उपायों पर विमर्श किया गया।
इस कान्फ्रेंस को प्रदेश के राज्यपाल के उच्च शिक्षा सलाहकार प्रोफेसर राजपाल सिंह के मुख्य आतिथ्य तथा युवा नेता व समाजसेवी राहुल कोठारी की अध्यक्ष्ता में आयोजित किया गया। मिसेस इण्डिया क्लासिक अर्थ जया महेश तथा कैलीफोर्निया से आई शिक्षाविद जैनिस ऑस्टिन सहित देश-विदेश से आए विभिन्न विषय विशेषज्ञों ने कार्यक्रम को संबोधित किया। इस कार्यक्रम में शहर के विभिन्न शैक्षिक संस्थानों के विद्यार्थी व प्रतिनिधि अपने सुझावों के साथ शामिल हुए।
प्रोफेसर राजपाल सिंह ने कहा कि बीते डेढ़ वर्षों में जिस संख्या में आमजन से लेकर विभिन्न संस्थाओं का समर्थन मिला है उससे यह मिशन जल्द ही राष्ट्रीयस्वरूप प्राप्त कर लेगा। उन्होंने मिशन को अपना पूरा सहयोग प्रदान करने का भरोसा दिलाया।
राहुल कोठारी ने कहा कि इस कान्फ्रेस से निकलकर आने वाले निष्कर्षों को वे राज्य तथा केन्द्र सरकार के पास लेकर जाएंगे तथा इस दिशा में प्रभावी कानून बनवाने का प्रयास करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि कानून बनवाने अगर जरूरत पड़ी तो वे सांसदों के साथ मिलकर लोकसभा में प्रायवेट बिल पेश करने से भी पीछे नहीं हटेंगे।
मिसेस इण्डिया क्लासिक अर्थ जया महेश ने कहा कि वे शुरू से ही इस मिशन से जुड़ी हैं और वे अपने स्तर पर लोगों को जगरूक करने का कार्य कर रही हैं। उन्होंने स्कूल व कॉलेजों को साथ लेने व रोज किसी एक व्यक्ति से इस बारे में बात करने की बात कही ताकि इस मिशन को लाखों लोगों तक पहुंचाया जा सके व उन्हें साथ लिया जा सके।
बाल सुरक्षा विशेषज्ञ विभांशु जोशी ने कहा कि डूबने से होने वाली मौतों को भी आपदा माना जाना चाहिए क्योंकि पीड़ित परिवार के लिए यह आपदा ही होती है। यह आपदा किसी न किसी की लापरवाही की वजह से होती है। साथ ही इस मिशन को थोड़ा और व्यापक बनाकर बोरवेल और स्कूल आदि में बनी पानी की टंकियों में होने वाली मौतों को भी शामिल किया जाना चाहिए। उन्होंने देश के डिजास्टर रिस्क रिडक्शन कार्यक्रम में डूबने से होने वाली मौतों को आपदा मानते हुए शामिल करने की बात कही।
वरिष्ठ कानून विशेषज्ञ श्रीनिवास जोशी ने कहा कि केन्द्रीय व राज्य प्रदूषण निवारण मण्डलों के पास पानी के स्रोतों के आसपास सुरक्षा इंतजाम करने की शक्तियां हैं जिनका इस्तेमाल वे कर सकती हैं। सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 2010 में बोरिंग सेफ्टी की गाइडलाइन जारी की थीं उनका इस्तेमाल भी डूबने से होने वाली मौतों से बचाव के कार्यक्रम में शामिल किया जा सकता है। इन गाइडलाइनों को शामिल करने से किसी और तरह की गाइडलाइन की जरूरत नहीं रहेगी।
बीएसएनएल के महाप्रबंधक श्री शुक्ला ने बताया कि उनके विभाग की ओर से केरवां डेम पर मोबाइल टॉवर की स्थापना की गई है जिससे यह स्थान कम्युनिकेशन नेटवर्क में आ गया है जिससे मुसीबत की स्थिति में फोन कॉल कर सहायता बुलाई जा सकती है। उन्होंने कहा कि उनका विभाग आगे भी ऐसे स्थानों पर टॉवर लगाने में सहयोग करेगा जहां आपदा की स्थिति में मोबाइल नेटवर्क की जरूरत होती है।

डॉ. कलाम लायब्रेरी से प्रदेश के 3 लाख बच्चों को जोड़ेगी विश्लेषण सोसायटी
Our Correspondent :3 December 2016
पूर्व राष्ट्रपति व वैज्ञानिक डॉक्टर अब्दुल कलाम हमेशा चाहते थे कि देश का प्रत्येक बच्चा शिक्षित हो तथा अच्छी पुस्तकें उसकी पहुंच में हों। लायब्रेरी खोला जाना उनके इस सपने को पूरा करने की दिशा में पहला कदम है खासकर उन बच्चों के लिए जो अत्यंत गरीब हैं और खरीदकर पुस्तकें नहीं पढ़ सकते। भले ही आज डॉक्टर कलाम हमारे बीच नहीं हैं किंतु उनके पूर्व सहयोगी एवं जाने माने लेखक सृजन पाल सिंह उनके इस अधूरे सपने को कलाम लायब्रेरी मिशन के जरिए पूरा करने में लगे हुए हैं। उनका यह मिशन दिल्ली, महाराष्ट्र, राजस्थान व गुजरात आदि राज्यों के 24 शहरों में चल रहा है जिसके तहत इस मिशन से जुड़े उनके सहयोगी लाखों किताबें दान में प्राप्त कर ऐसे स्कूलों में लायब्रेरियां खोल रहे हैं जहां झुग्गी बस्तियों में रह रहे गरीब बच्चे शिक्षा के लिए आते हैं। इसी सिलसिले में श्री सिंह आज भोपाल पहुंचे जहां उन्होंने भोपाल की समाजसेवी संस्था विश्लेषण एजुकेशनल एंड सोशल वेलफेयर सोसाइटी के साथ अनुबंध किया। विश्लेषण संस्था के दीपक मोटवानी ने जानकारी दी कि अब कलाम लायब्रेरी मिशन मध्यप्रदेश में आरंभ किया जा रहा है। इसकी शुरूआत भोपाल से की जा रही है। भोपाल शहर में स्कूलों को चिन्हित करने का कार्य किया जा रहा है तथा यह कार्य पूरा होते हीं यहां लायब्रेरियां आरंभ कर दी जाएंगी। मिशन से जुड़े सहयोगी बड़े स्कूलों, विद्यार्थियों, अभिभावकों, सेवानिवृत्त अधिकारियों व सेवाभावी लोगों को अपने साथ जोड़कर पुस्तकें प्राप्त करने का कार्य कर रहे हैं। श्री सिंह ने यह भी बताया की दानकर्ता पुस्तकें डोनेट करने के साथ साथ स्लम एरिया के बच्चों के साथ अपने अनुभव भी बांट सकते हैं ताकि बच्चों को मार्गदर्शन मिलने के साथ जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा भी मिल सके। दीपक मोटवानी ने बताया कि विश्लेषण संस्था भोपाल के युवाओं द्वारा स्थापित की गयी है, जो समय समय पर जरूरतमंदों को अनेक तरह से मदद पहुचाने का काम करती है । इसी कड़ी में उनकी संस्था डॉ. कलाम के सपनों को पूरा करने के लिए शहर के जरूरतमंद बच्चों तक किताबें पहुचाने के साथ साथ उन्हें शिक्षित करने का काम भी करेंगे। उन्होंने यह भी बताया कि जो भी बच्चे या अभिभावक इस मिशन के लिए पुस्तके दान करना चाहतें हैं वे उनसे मोबाइल क्रमांक 8305188188 पर संपर्क कर सकते हैं। साथ ही वे स्कूल भी उनसे संपर्क कर सकते हैं जिन्हें अपनी परिसर में ऐसी लायब्रेरी की स्थापना करनी हो।

पत्र सूचना कार्यालय भारत सरकार भोपाल
Our Correspondent :3 December 2016
क्षेत्रीय विकलांग पुनर्वास केंद्र (सीआरसी), भोपाल अंतरराष्ट्रीय दिव्यांगजन दिवस के अवसर पर 03 दिसंबर 2016 को शाम 6.00 बजे से भोजपाल महोत्सव मेला, दशहरा मैदान, भेल में एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन कर रहा है। इस कार्यक्रम में दिव्यांगजनों एवं उनके अभिभावकों द्वारा अपने-अपने अनुभव व्यक्त किए जाएंगे। कार्यक्रम की शुरुआत साइन लेंगवेज में राष्ट्रगान द्वारा होगी। इसे एस ओ एस के दिव्यांगजन पेश करेंगे। कार्यक्रम में सृष्टि नाटक का मंचन एस ओ एस खजूरी कलां के दिव्यांगजनों द्वारा किया जाएगा। उमंग विद्यालय के दिव्यांगजनों द्वारा भी नाटक का मंचन किया जाएगा। इस कार्यक्रम में अभिभावको द्वारा भी नाटक का मंचन भी होगा। साथ ही प्रस्तुति देने वाले दिव्यांगजनों को उपहार वितरण का कार्यक्रम होगा। कार्यक्रम का समापन राष्ट्रगीत से होगा। कार्यक्रम में चिन्हित दृष्टिबाधित एवं श्रवणबाधित व्यक्तियों को नवीन प्रकार के सहायक उपकरणों का वितरण किया जाएगा। भोजपाल महोत्सव मेले में सीआरसी, भोपाल द्वारा एक प्रदर्शनी 29 नवंबर से 18 दिसंबर 2016 तक आयोजित की गई है।

जीवन में सकारात्मक रहें और बड़े उददेश्य के लिये समर्पित रहें
21 October 2016
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की माताजी की स्मृति में उनके बडे सुपुत्र कार्तिकेय सिंह चौहान ने गत दिवस रेहटी विकास खंड के गांवों में छटवी से बारहवीं तक के विदयार्थियों को कापियां एवं अन्य शैक्षणिक सामग्री का वितरण किया। बुदनी विधान सभाक्षेत्र के सभी शासकीय शालाओं के बच्चों को कापियां नि:शुल्क वितरित की जायेगी। मां सुंदर देवी महिला कल्‍याण समिति द्वारा कॉपी वितरण कार्यक्रम में विदयार्थियों को संबोधित करते हुए कार्तिकेय ने उनका आव्हान किया कि जीवन में सकारात्मक रहें और बड़े उददेश्य के लिये समर्पित रहें। कार्तिकेय ने कहा कि मानव सेवा सबसे बडा धर्म है। सेवा करने के लिये शिक्षा प्राप्त करना जरूरी है। उन्होने कहा कि हर बच्चे को बारहवीं तक अनिवार्य शिक्षा देने के लिये सरकार ने सभी व्यवस्थाएं की हैं। कार्तिकेय ने 17 से 19 अक्टूबर तक तीन दिन रेहटी विकास खंड के मट्ठागांव, रेहटी, गोपालपुर, पिपलानी, सेमरी, बुधनी और शाहगंज आदि गांवों का सघन दौरा किया और शैक्षणिक सामग्री बांटी। उल्लेखनीय है कि मां सुंदर देवी महिला कल्‍याण समिति द्वारा जन कल्याण के कार्यक्रम निरंतर आयोजित किये जाते हैं।

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय द्वारा 7-8 सितम्बर, 2016 को नई दिल्ली में दिव्यांगजन के लिए दो दिवसीय विशेष रोजगार / नौकरी मेले का आयोजन
6 September 2016
नई दिल्ली : सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय, भारत सरकार के तहत कार्यरत राष्ट्रीय निगम नेशनल हैंडीकैप्ड फाइनैंस एंड डिवैल्पमेंट कारपोरेशन द्वारा दिनांक 7-8 सितम्बर,2016 को नई दिल्ली में दिव्यांगजन के लिए दो दिवसीय रोजगार / नौकरी मेले का आयोजन किया जा रहा है. इस रोजगार मेले में भारत सरकार के विभिन्न संगठन जैसे विकलांग व्यवसायिक पुनर्वास केंद्र(वीआरसीएच),नई दिल्ली, हार्डीकॉन, राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम लिमिटेड(एनएसआईसी), विकलांगजन कौशल विकास परिषद की भागीदारी भी रहेगी. इस मेले का उद्घाटन माननीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री थावरचंद गहलोत द्वारा किया जाएगा. इस अवसर पर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री श्री रामदास अठावले, श्री कृष्णपाल गुर्जर तथा श्री विजय सांपला की गरिमामयी उपस्थिति रहेगी.
दिव्यांगजन के लिए विशेष रोजगार / नौकरी मेले में निजी क्षेत्र की लगभग तीस कंपनियों को बुलाया गया है. विभिन्न कंपनियों / इंडस्ट्री की जरूरतों के हिसाब से 7 सितम्बर, 2016 को दिव्यांगजन का असेसमेंट किया जाएगा तथा असेसमेंट के आधार पर दिनांक 8 सितम्बर, 2016 को दिव्यांगजन को विभिन्न नौकरियां प्रदान करने के लिए उनका इंटरव्यू लिया जाएगा. इसके अलावा दिव्यांगजन को भारत सरकार की स्वरोजगार योजनाओं, अध्ययन छात्रवृत्ति तथा प्रशिक्षण के मौकों के बारे में जानकारी प्रदान करते हुए दक्षता प्रशिक्षण हेतु उनका चयन भी किया जाएगा. इस अवसर पर एनएचएफडीसी, वीआरसीएच, एनएसआईएस, स्किल काउन्सिल फार डिसेबल, डीएसएफडीसी, पीएनबी, आईडीबीआई, एसबीओएच द्वारा भी अपने स्टाल लगाकर जानकारी प्रदान की जाएगी. इच्छुक दिव्यांग अपने फोटो पहचान पत्र, विकलांगता प्रमाण पत्र, शैक्षिक / अनुभव प्रमाण पत्रों(मूल व फोटोकॉपी) के साथ प्रात: 9 बजे विकलांग व्यवसायिक केंद्र(वीआरसीएच), प्लाट नंबर 9,10,11, कडकडडूमा, विकास मार्ग दिल्ली-110092 में पँहुच कर इस रोजगार मेले का लाभ उठा सकता है.।

जूही कोलकाता में थैलेसीमिया पीड़ित बच्चों से मिली
18 May 2016
जूही चावला अपने काम में जितना भी बिजी हों, उनसे कोई मदद मांगे तो वह तुरंत वक्त निकालकर मदद करने पहुंच जाती हैं। कोलकाता में भी यही हुआ। वे वहां अपनी क्रिकेट टीम कोलकाता नाइट राइडर्स को सपोर्ट करने पहुंची थीं। क्रिकेट मैच के साथ-साथ उन्होंने सोशल वर्क के लिए भी समय निकाल लिया। वे थैलेसीमिया सोसायटी आॅफ इंडिया ट्रीटमेंट फेसिलिटी द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में पहुंचीं और इस बीमारी से पीड़ित बच्चों से मुलाकात की। साथ ही उन्होंने लोगों इस बीमारी के प्रति जागरूक करने के अलावा रक्तदान की अपील की। वे इस सोसायटी से 2011 से जुड़ी हैं। जूही ने बच्चों के लिए एक लाख रुपए डोनेट किए हैं।

एसओएस बालग्राम के विशेष बच्चों ने की महिला व बाल कल्याण मंत्री से मुलाकात
29 April 2016
भोपाल। खजूरी कलां स्थित एसओएस बालग्राम की सात विशेष बालिकाओं ने आज सुबह प्रदेश की महिला व बाल कल्याण मंत्री श्रीमती माया सिंह से मुलाकात की। इन सभी बालिकाओं ने इस वर्ष फरवरी माह में हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर में स्पेशल ओलंपिक, भारत द्वारा आयोजित नेशनल फ्लोर बाल चैम्पियनशिप में मध्यप्रदेश का प्रतिनिधित्व करते हुए स्वर्ण पदक जीता था। इन बालिकाओं में कुमारी किरण, कुमारी श्रुति, कुमारी विधुशी, कुमारी पावली, कुमारी लक्ष्मी, कुमारी मानसी एवं कुमारी महालक्ष्मी शामिल थीं। इन सात बालिकाओं में से दो बालिकाओं का चयन उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन के आधार पर वर्ष 2017 में आस्ट्रिया (यूरोप) में आयोजित होने वाले स्पेशल ओलंपिक वल्र्ड विंटर गेम्स में होने की पूरी संभावना है। चयनित बालिकाएं स्पेशल ओलंपिक फ्लोर बाल गेम में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगी। उल्लेखनीय है कि विगत वर्ष जुलाई माह में एसओएस बालग्राम के तीन बच्चे स्पेशल ओलंपिक समर गेम्स में भाग लेने लास एंजिल्स (यूएसए) गए थे तथा वहां से पदक जीतकर लौटे थे।
मंत्री महोदया ने मुलाकात के दौरान इन बच्चों से बातकर उनकी हौसला आफजाई की तथा यथासंभव मदद का आश्वासन दिया। इस अवसर पर एसओएस बालग्राम के प्रभारी दीपक सक्सेना उपस्थित थे।



बाल आयोग के अध्यक्ष डॉ राघवेन्द्र का औचक निरीक्षण
कटारा हिल्स स्थित आवासीय विधालय का किया निरीक्षण
20 मार्च तक अनियमिताओ के निराकरण के दिए निर्देश

14 April 2016
भोपालः मप्र बाल संरक्षण अधिकार आयोग के अध्यक्ष डॉ राघवेन्द्र शर्मा ने आज कटारा हिल्स स्थित आदिमजाति कल्याण विभाग के आवासीय विधालय का औचक निरीक्षण किया और विधालय के छात्र छात्राओ से मुखातिब होकर श्री शर्मा ने अपील करते हुए कहा कि आप सभी विधार्थी प्रदेश के विभिन्न जिलों से आकर यहा विधा अध्यन कर रहें हैं और अब परीक्षा के उपरांत छुटटीयों में जब अपने घर वापस लोटे तो अपने आस पास रहने वाले बच्चो को न सिर्फ पढने के लिए प्रेरित करे बल्कि प्रत्येक विधार्थी सकल्प ले कि वह पाँच बच्चो को अक्षर ज्ञान जरूर देगा।
निरीक्षण के दौरान डॉ. राघवेन्द्र शर्मा को विधालय और छात्रावास में कई अनियिमिताए भी मिली जिस पर श्री शर्मा ने विधालय प्रबंधन को 20 मार्च तक निराकरण करने के निर्देश दिए।
बाल आयोग के अध्यक्ष डॉ. राघवेन्द्र शर्मा आज सुबह 9 बजे अचानक कटारा हिल्स स्थित अनुसूचित जाति जनजाति के छात्र छात्राओं के लिए संचालित संभागीय आवासीय हाई सेंकडरी विधालय में पहुचें वहां पर श्री शर्मा ने कक्षा 6,7 व 8 की कक्षाओं में छात्र छात्राओं से देश के राष्ट्र पति, उपराष्ट्रपति और प्रदेश के राज्यपाल का नाम पूछा तो कई छात्र छात्राए नही बता पाए इसके उपरांत छात्रावास के निरीक्षण के दौरान साफ सफाई की व्यवस्था पर भी श्री शर्मा ने नाराजगी दर्ज कराई। विधालय परिसर में करोडो रूपये की लागत से बने स्केटिग कोर्ट, टेनिस कोर्ट सहित अन्य खेल मैदान पर सुचारू रूप से छात्र छात्राओ को प्रशिक्षित कर खेलो से जोडने के निर्देश दिए।



समग्र विकास के लिए रचनात्मक गतिविधियों का संचालन समाज-हित में
Our Correspondent :29 March 2016
भोपाल। जनसंपर्क, ऊर्जा तथा खनिज साधन मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि किसी भी संस्था के समग्र विकास के लिए रचनात्मक गतिविधियों का संचालन समाज-हित में सार्थक है। उन्होंने कहा कि जन-अभियान परिषद द्वारा संचालित गतिविधियों के अच्छे परिणाम मिल रहे हैं। उन्होंने जन-अभियान परिषद से जुड़े कार्यकर्ताओं से राज्य सरकार की जन-कल्याणकारी योजनाओं को समाज के अंतिम छोर तक पहुँचाने में सक्रिय भूमिका निभाने की अपील की। श्री शुक्ल आज सतना में मध्यप्रदेश जन-अभियान परिषद की प्रस्फुटन समितियों और मुख्यमंत्री सामुदायिक नेतृत्व क्षमता विकास पाठ्यक्रम के छात्रों के एक-दिवसीय सम्मेलन-सह-कार्यशाला 'संवाद' को संबोधित कर रहे थे।
श्री शुक्ल ने कहा कि राज्य सरकार ने विकास और कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन के जरिये पूरे राज्य का परिदृश्य बदल दिया है। उन्होंने कहा कि केन्द्र और राज्य सरकार की योजनाएँ समाज के प्रत्येक तबके को लाभान्वित करने के लिये हैं। उन्होंने कहा कि स्वैच्छिक कार्यकर्ता कमजोर तबके को जागृत करते हुए इन योजनाओं को जरूरतमंद तक ले जाये। श्री शुक्ल ने कहा कि समृद्धशाली और शक्तिशाली भारत के निर्माण का सपना पूरा होने का समय आ गया है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की योजनाएँ एवं विकास कार्यक्रम गरीब और किसानों को केन्द्र-बिन्दु रखकर क्रियान्वित किये जा रहे हैं।
समाजसेवी श्री कृष्ण माहेश्वरी तथा परिषद के संभागीय समन्वयक श्री अमिताभ श्रीवास्तव ने भी अपने विचार रखे। इस मौके पर महापौर श्रीमती ममता पाण्डेय, परिषद के सलाहकार श्री शशिकांत मणि त्रिपाठी और जिला समन्वयक श्री प्रदीप तिवारी उपस्थित थे।

बेला-सतना फोर लेन मार्ग का निरीक्षण

श्री राजेन्द्र शुक्ल ने रीवा से सतना आते समय बेला से लेकर रामपुर, सज्जनपुर बाईपास सहित बेला-सतना फोर लेन मार्ग की प्रगति का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों तथा संविदाकार को निर्माण कार्य में गति लाने के निर्देश दिये।


महिलाओं को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने “सावित्री बाई फुले” स्व-सहायता समूह गठित होंगे मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्वालियर में ज्योति बा फुले की प्रतिमा का किया अनावरण
29 February 2016
आर्थिक और सामाजिक रूप से कमजोर वर्ग की महिलाओं को आर्थिक रूप से सुदृढ़ बनाने के लिये प्रदेश में 'सावित्री बाई फुले' स्व-सहायता समूहों का गठन किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज ग्वालियर में महात्मा ज्योति बा फुले की मूर्ति का अनावरण करते हुए यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि दलित और पिछड़ों के हितों के लिये अपना जीवन समर्पित करने वाले महात्मा फुले के बताये मार्ग पर चलते हुए राज्य सरकार भी इस वर्ग के कल्याण के लिये कृत-संकल्पित है।
इस मौके पर महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती माया सिंह, महापौर श्री विवेक नारायण शेजवलकर, विधायक सर्वश्री नारायण सिंह, जयभान सिंह पवैया, भारत सिंह कुशवाह उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि महात्मा ज्योतिबा फुले ने दलित सेवा और विशेषकर महिला शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किये। उन्होंने नारी शिक्षा की अलख की शुरूआत अपने घर से करते हुए अपनी पत्नी श्रीमती सावित्री बाई फुले को सर्वप्रथम शिक्षित बनाना प्रारंभ किया। उन्होंने वर्ष 1854 में लड़कियों के लिये पहला विद्यालय प्रारंभ किया।
श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश सरकार ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय के अन्त्योदय के मूल सिद्धांत को अपनाया है। उन्होंने कहा कि सरकार कमजोर वर्ग के कल्याण के लिये निरंतर प्रयासरत है। वर्ष 2022 तक प्रत्येक गरीब को मकान और आवासीय पट्टे देने का लक्ष्य है। बहन-बेटियों को आर्थिक और सामाजिक रूप से सशक्त बनाने के लिये लाड़ली लक्ष्मी से लेकर कन्या शिक्षा, कन्यादान जैसी योजनाएँ संचालित की जा रही हैं। स्थानीय संस्थाओं में 50 प्रतिशत और शासकीय नौकरियों में विशेषकर पुलिस में 33 प्रतिशत स्थान महिलाओं के लिये आरक्षित किए गए हैं।
केन्द्रीय इस्पात एवं खान मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि ग्वालियर शहर में लम्बे समय से महात्मा फुले की प्रतिमा की माँग की जा रही थी, जो अब पूरी हो गई है।


ज्ञान, विज्ञान और प्रतिभा की त्रिवेणी का संगम है कायस्थ समाज
कायस्थ प्रेरणा से आशीर्वाद प्राप्त कर आगे बढ़ा हू – श्री शिवराज सिंह चौहान
कायस्थ समाज ने सदैव अपनी प्रतिभा और ज्ञान से देश की सेवा की है – श्री कैलाश नारायण सारंग
कलम के साथ ऊर्जा और शक्ति का विस्तार करना होगा – श्री महेश श्रीवास्तव
प्रधानमंत्री मोदी के आहवाहन पर निशक्तजनों को दिव्यांग कहने की सर्वप्रथम शुरुआत कायस्थ समाज ने की – श्री विश्वास सारंग
सामाजिक समागमों के आयोजन मे आपसी संबंध प्रगाण होते है- श्री आलोक संजर

11 January 2016
भोपाल स्थित कायस्थ समाज की धरोहर एवं प्राचीन नेवरी मंदिर मे आज चित्रांश समागम का आयोजन किया गया, समागम मे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री कैलाश नारायण सारंग ने भव्य चित्रगुप्त मंदिर के लिए भूमि पूजन कर भव्य मंदिर की आधारशिला रखी, भूमि पूजन उपरांत मुख्यमंत्री एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा भगवान चित्रगुप्त की प्रतिमा के समक्ष पुष्प अर्पित कर सांध्यकालीन कार्यक्रमों की शुरुआत की
चित्रांश समागम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कायस्थ समाज के लोगो ने सदैव अपनी मेघा प्रेरणा और बुद्धि से देश के उच्च पदो को सुशोभित किया है, ज्ञान विज्ञान और प्रतिभा की त्रिवेणी का संगम कायस्थ समाज रहा है, उन्होने बताया कि उनके अब तक के राजनैतिक कार्यकाल मे हमेशा कायस्थों कि प्रेरणा एवं आशीर्वाद उन्हे मिलता रहा है, स्वामी विवेकानंद को पढ़कर उन्होने देश सेवा करने का मन बनाया, श्री सालेग्राम श्रीवास्तव से सानिध्य पाकर राजनीति के गुण सीखे, राजनीति के प्रथम आंदोलन मे भाग लोक नायक जय प्रकाश नारायण के नेत्रत्व मे लिया और संघठन की शिक्षा कुशाभाव ठाकरे से प्राप्त की है , श्री शिवराज सिंह चौहान ने समागम मे कहा कि कायस्थ समाज देश एवं समाज सेवा मे अगर एक कदम आगे बढ़ाएगा तो शिवराज सिंह चौहान और मध्यप्रदेश सरकार इस और दो कदम बढ़ाएगी , उन्होने कार्यक्रम मे बताया कि दिन की ज्यादा व्यस्तताए होने के बावजूद भी राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री कैलाश नारायण सारंग द्वारा किए गए आग्रह को नकार नहीं पाया , उन्होने नरेला से विधायक श्री विश्वास सारंग की प्रसंशा करते हुए कहा कि विश्वास को भाजपा संघठन मे कठिन काम को आसानी से कर देने के लिए ही याद किए जाता है, वे अपनी राजनैतिक कुशलता , बुद्धि एवं प्रतिभा के बल पर क्षेत्र कि सेवा निरंतर कर रहे है
चित्रांश समागम को संबोधित करते हुए महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री कैलाश नारायण सारंग ने कहा कि कायस्थ समाज ने अपनी प्रतिभा और ज्ञान से सदैव देश की सेवा की है , कायस्थ समाज अपनी कलम से देश के उच्च पदो पर आसीन होकर देश की रीति नीति बनाने एवं उसके सफल क्रियान्वयन मे हमेशा आगे रहा है , उन्होने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की प्रसंशा करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री 3 बार लगातार जीते है और 2018 मे भी शिवराजमय प्रदेश होगा , उन्होने कहा कि बुलंदियों पर पेहुचना आसान होता है मगर बुलंदियों पर ठेहरना कमाल होता है, प्रदेश के लोकप्रिय मुख्यमंत्री ने अपनी संवेदनशीलता और लगन , मेहनत से यह कर दिखाया है इसके लिए उन्हे बधाई
मध्यप्रदेश गान लिखने वाले यसश्वी पत्रकार श्री महेश श्रीवास्तव ने चित्रांश समागम को संबोधित करते हुए कहा कि भगवान शंकर का मंदिर है, शिव मुख्य अतिथि है, कैलाश अध्यक्षता कर रहे है और महेश बोल रहे है l उन्होने सत्य शिव और सौन्दर्य के मदिर मे मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि कलम दवात के पुजारी चित्रगुप्त की पूजा शस्त्रार्थों से भी की जाती है , उन्होने चित्रांश समागम मे आहवाहन किया कि आज के समय मे कलम के साथ साथ हमे ऊर्जा और शक्ति का विस्तार करने की भी आवश्यकता है , कायस्थ समाज को दायें हाथ मे पुरुषार्थ तो बाए हाथ मे विजय श्री लेकर राष्ट्र हित मे आगे बढ़ना होगा
नरेला से विधायक एवं चित्रांश समागम के स्वागत अध्यक्ष श्री विश्वास सारंग ने अपना स्वागत भाषण देते हुए कहा कि जम्मू से लेकर कन्याकुमारी और अटक से लेकर कटक तक कायस्थ समाज के लोग निवासरत है, सभी देश कि सेवा के लिए विभिन्न उच्च पदो पर आसीन होकर अपनी सेवाए दे रहे है , मध्यप्रदेश कायस्थ महासभा कायस्थों को एक मंच के नीचे लाने का अभिनव कार्य करती रही है , उन्होने बताया कि चित्रांश समागम के लिए कायस्थ महासभा के सदस्य एवं समाज के लोग विगत दो महीने से लगातार लगन के साथ मेहनत कर इस भव्य एवं विशाल समागम को मूर्त रूप देने मे कामयाब हुए है, उन्होने बताया कि कायस्थ महासभा एवं समाज ने सर्वप्रथम प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा निशक्तजनों को दिव्यांग कहने के आहवाहन को सामाजिक स्तर पर कहने की शुरुआत की है पूर्व मे राष्ट्रीय मंत्री अजय श्रीवास्तव “नीलू” ने चित्रांश समागम को बताया कि आज प्रातः काल आयोजित हुई राष्ट्रीय परिषद की बैठक मे लगातार तीसरी बार श्री कैलाश नारायण सारंग को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर निर्विरोध निर्वाचित किया गया, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अजय श्रीवास्तव नीलू के साथ मिलकर यह घोषणा की
चित्रांश समागम मे मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान, राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री कैलाश नारायण सारंग, भोपाल महापौर आलोक शर्मा एवं समाज के राष्ट्रीय एवं प्रांतीय जनप्रतिनिधि द्वारा कायस्थ महासभा की स्मारिका “बंधन” का विमोचन किया गया
भोपाल से सांसद कायस्थ रत्न श्री आलोक संजर ने प्रातः काल आकार चित्रांश समागम को संबोधित किया और कहा कि ऐसे समागम से आपसी संबंध प्रगाण होते है, लोग एक सूत्र मे बंधते है , उन्होने सभ्य मानव जगत के प्रथम तीन शब्दो को परिलक्षित करते हुए कहा कि इससे समाज का निर्माण होता है, श्री सारंग ने महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री कैलाश नारायण सारंग द्वारा समाज को एकत्रित कर एक सूत्र मे पिरोने के लिए किया गए प्रयासो, एवं प्रवासों की सराहना की l उन्होने नेवरी मंदिर के इतिहास को बताते हुए कहा कि आज यहाँ बनने वाले संबंधो को लोग सदैव याद रखेंगे और चित्रांश समाज की इस प्राचीन धरोहर मे आते रहेंगे , उन्होने चित्रांश समागम के भव्य आयोजन के लिए कायस्थ महासभा एवं नरेला विध्यक श्री विश्वास सारंग को बधाई दी
प्रातः मे अखिल भारतीय कायस्थ महासभा ने प्राचीन नेवरी मंदिर मे अखिल भारतीय चित्रांश समागम मे कायस्थ महासभा की राष्ट्रीय महिला अध्यक्ष श्री मति शीला भटनागर, प्रांतीय अध्यक्ष श्री सुनील श्रीवास्तव, राष्ट्रीय मंत्री अजय श्रीवास्तव “नीलू” , नरेला से लोकप्रिय विधायक श्री विश्वास सारंग सहित कायस्थ महासभा के जिला कार्यकारिणी के पदाधिकारियों ने भगवान चित्रगुप्त की प्रतिमा के सामने दीप प्रज्वलन ,पुष्प अर्पण एवं भगवान चित्रगुप्त आरती गाकर किया, चित्रांश समागम मे कायस्थ समाज के लोग मध्य प्रदेश उत्तरप्रदेश झारखंड बिहार राजस्थान दिल्ली समेत देश के कई प्रांतो से पधारे, कार्यक्रम प्रातः 10.30 बजे प्रारम्भ हुआ, दीप प्रज्ज्वलन के पश्चात युवक युवतियों का परिचय सम्मेलन प्रारम्भ हुआ जिसमे 2000 रजिस्ट्रेशन कायस्थ महासभा द्वारा किए गए एवं लगभग 1000 युवक युवतियों ने चित्रांश समागम मे आकार अपना परिचय दिया l कायस्थ महासभा मे युवक युवती परिचय सम्मेयन 5 श्रेणीओं मे आयोजित किया गया, जिसमे सामान्य श्रेणी मे लगभग 500 युवक युवतियों ने अपना परिचय सम्मेलन दिया, 35 वर्ष से अधिक आयु वर्ग मे लगभग 250 युवक युवती उपस्थित हुए, विधवा विधुर श्रेणी मे लगभग 100, दिव्यांग श्रेणी मे 50 और तलाकशुधा श्रेणी मे लगभग 100 युवक युवती परिचय सम्मेलन के लिए उपस्थित हुए , प्रातः काल हुए कार्यक्रम मे राष्ट्रीय महिला अध्यक्ष श्री मति शीला भटनागर एवं प्रांतीय अध्यक्ष सुनील श्रीवास्तव ने समागम को संबोधित करते हुए समाज के विकास, एकजुटता, प्रतिभा सम्मान की बात कही
आज सम्पन्न हुई राष्ट्रीय परिषद बैठक मे मंच संचालन श्री अजय श्रीवास्तव नीलू , युवक- युवती परिचय सम्मेलन मे मंच संचालन ब्रजेश श्रीवास्तव , आराधना संजर श्रीवास्तव, उषा खरे एवं रमेश सक्सेना ने किया
चित्रांश समागम मे प्रांतीय महामंत्री श्री ब्रजेश श्रीवास्तव, वारिस्थ उपाध्यक्ष श्री अभय प्रधान , महिला प्रांतीय अध्यक्ष श्रीमति दीपा खरे, भोपाल अध्यक्ष महेंद्र श्रीवास्तव, माओज सक्सेना विनीता श्रीवास्तव, आराधना संजर श्रीवास्तव, डॉ अंजलि खरे मनोज सक्सेना, सत्येंद्र खरे सहित कायस्थ समाज के लोग, प्रबुद्धजन एवं बड़ी संख्या मे युवक युवती चित्रांश समागम मे सम्मिलित हुए ।

अंतरराष्ट्रीय बधिर दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन
Our Correspondent :30 September 2015
विकलांगजन सशक्तिकरण विभाग, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार के अधीन क्षेत्रीय विकलांग पुनर्वास केंद्र, भोपाल तथा स्थानीय डी.बी. मॉल के संयुक्त तत्वाधान में दिनांक 27 सितंबर 2015 को अंतरराष्ट्रीय बधिर दिवस के उपलक्ष में एक कार्यक्रम का आयोजन डी.बी.मॉल में सायं 5 से 7 बजे के मध्य किया गया। इस कार्यक्रम में भोपाल में संचालित विभिन्न विशेष विद्यालयों के श्रवण बाधित बच्चों द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी गईं। आम जनता के लिए प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का विशेष आकर्षण क्षेत्रीय विकलांग पुनर्वास केंद्र द्वारा सांकेतिक राष्ट्रगान था जिसकों श्रवण बाधित विद्यार्थियों तथा सामान्य विद्यार्थियों के द्वारा संकेतों के माध्यम से गाया गया। सामूहिक नृत्य की प्रस्तुति आशा निकेतन बधिर उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के श्रवण बाधित बच्चों द्वारा दी गई तथा श्री अरुण सक्सेना द्वारा माइम शो की प्रस्तुति दी गई। श्रवण बाधित निःशक्तजनों के लिए पूरे कार्यक्रम को सांकेतिक भाषा अनुवादक द्वारा सांकेतिक भाषा में अनुवाद किया गया।


दृष्टिबाधित का कल्याण हम सबका कर्त्तव्य
Our Correspondent :15 September 2015
राज्यपाल श्री यादव ने की उद्योगपतियों से आर्थिक सहायता देने की अपील

भोपाल। मप्र के राज्यपाल श्री राम नरेश यादव ने कहा है कि दृष्टिबाधितों की सहायता और मदद पुण्य का काम तो है ही, इनके पुनर्वास और कल्याण के लिए सक्रिय भागीदारी निभाना हम सबका कर्त्तव्य है। राज्यपाल श्री यादव ने उद्योगपति, व्यवसाइयों और समृद्ध परिवारों से इस अभियान में अधिक से अधिक आर्थिक सहायता और योगदान देने की अपील की है। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में दृष्टिबाधित की मदद के लिए विभिन्न उपकरणों के शोध और उत्पादन के क्षेत्र में क्रांति आई है। सरकार द्वारा दृष्टिबाधित के लिए किये जा रहे प्रयासों के संतोषजनक परिणाम परिलक्षित हो रहे हैं।
राज्यपाल श्री यादव आज राजभवन में दृष्टिबाधित की सहायतार्थ ध्वज दिवस का शुभारंभ कर रहे थे। इस अवसर पर नेशनल एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड और दि ब्लाइंड रिलीफ एसोसिएशन की ओर से राज्यपाल को ध्वज लगाया गया। राज्यपाल ने संस्थाओं के पदाधिकारियों को सहयोग राशि प्रदान की। राज्यपाल के प्रमुख सचिव श्री अजय तिर्की, नेशनल एसोसिएशन फार द ब्लाइंड के संरक्षक और पूर्व पुलिस महानिदेशक श्री अरुण गुर्टू और दृष्टिहीन कल्याण संघ के अध्यक्ष श्री नासिर हुसैन उपस्थित थे। पूर्व में नेत्रहीन विद्यार्थियों ने राज्यपाल श्री यादव को पुष्प भेंट किये।


 
Copyright © 2014, BrainPower Media India Pvt. Ltd.
All Rights Reserved
DISCLAIMER | TERMS OF USE